रविवार, 1 मई 2022

कांग्रेस ने राज्य व जनता को भी संकट में डाला

कांग्रेस ने राज्य व जनता को भी संकट में डाला

नरेश राघानी
अलवर। भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय महामंत्री एवं प्रदेश प्रभारी अरुण सिंह ने राजस्थान की कांग्रेस सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि राजस्थान संकटों की सरकार है। खुद तो संकट में ही है, अब जनता को भी संकट में डाल दिया। सिंह ने रविवार को यहां पत्रकारों से बातचीत में आरोप लगाया की कांग्रेस ने सत्ता बचाने के लिए राज्य को संकट में डाल दिया।
राजस्थान में पानी संकट, बिजली संकट,अस्पतालों में दवा का संकट है। अब तो सत्ता का संकट बना हुआ है। सत्ता हथियाने के चलते राज्य की जनता पर कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा। अब तो भ्रष्टाचार भी राज्य में बढ़ता जा रहा है। अपराधों में राजस्थान अव्वल नंबर पर आ गया है।

'वीवो एक्स-80' सीरीज की लॉन्चिंग का ऐलान

'वीवो एक्स-80' सीरीज की लॉन्चिंग का ऐलान   

अकांशु उपाध्याय            

नई दिल्ली। वीवो की तरफ से फ्लैगशिप स्मार्टफोन 'वीवो एक्स-80' सीरीज की लॉन्चिंग का ऐलान हो गया है। इस सीरीज के दो स्मार्टफोन वीवो एक्स-80 और वीवो एक्स-80 Pro को भारत में 18 मई को लॉन्च किया जा सकता है। बता दें कि फोन की ग्लोबल लॉन्चिंग 8 मई 2022 को होगी।

फोन का रिफ्रेश रेट सपोर्ट 120Hz है। फोन को एंड्राइड 12 ऑपरेटिंग सिस्टम के साथ पेश किया जा सकता है। फोन ओरिगीन ओएस सपोर्ट के साथ आएगा। फोन ड्यूल सिम के साथ आएगा। फोन के रियर में क्वाड कैमरा सेट्अप मिलेगा। इसका मेन कैमरा 50 मेगापिक्सल का होगा। जो सेमसंग जीएनवी सेंसर सपोर्ट के साथ आएगा। इसके अलावा 48 मेगापिक्सल 5एक्स पेरिस्कोप टेलिफोटो कैमरा दिया गया है।

संभावित कीमत...

रिपोर्ट के मुताबिक, वीवो एक्स-80 स्मार्टफोन को भारत में 45,000 रुपये की शुरुआती कीमत में पेश किया जा सकता है। जबकि वीवो 80 प्रो को 65,000 रुपये के प्राइस टैग के साथ लॉन्च किया जाएगा। वीवो एक्स-80 प्रो स्मार्टफोन को क्वालकोमम स्नैपड्रेगन 8 जेन 1 चिपसेट सपोर्ट के साथ पेश किया जाएगा। फोन 12 GB रैम सपोर्ट के साथ आएगा। इसके अलावा फोन 256 जीबी और 512 जीबी स्टोरेज ऑप्शन में आएगा। वीवो एक्स-80 स्मार्टफोन एक 6.78 इंच क्वाड एचडी प्लस एमोलेड डिस्प्ले के साथ आएगा। इसका पिक्चर रेजॉल्यूशन 1440/3200 के साथ आएगा।

बिजली संकट का सामना कर रहा हरियाणा: सिंह

बिजली संकट का सामना कर रहा हरियाणा: सिंह 

राणा ओबरॉय
चंडीगढ़। कांग्रेस नेता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने रविवार को आरोप लगाया कि हरियाणा बिजली संकट का सामना कर रहा है। क्योंकि मनोहर लाल खट्टर नीत भाजपा सरकार एक निजी कंपनी के साथ विद्युत खरीद समझौता लागू नहीं कर सकी।
हरियाणा के पूर्व ऊर्जा मंत्री सुरजेवाला ने आरोप लगाया कि बिजली की अपर्याप्त आपूर्ति की वजह से ग्रामीण और शहरी उपभोक्ता तथा औद्योगिक क्षेत्र बुरी तरह प्रभावित हुए हैं और रोजाना 12 से 20 घंटे बिजली कटौती हो रही है।
कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता ने कहा कि राज्य को अदानी पावर, मुंद्रा, गुजरात से 2021 से समझौते के तहत 1,424 मेगावाट बिजली नहीं मिल रही है।
महाराष्ट्र में कोविड-19 के मामले बढ़ने पर फिर से लागू हो सकता मास्क का नियम: राजेश टोपे
उन्होंने यहां संवाददाता सम्मेलन में कहा, खट्टर सरकार अदानी पावर, मुंद्रा, गुजरात द्वारा आपूर्ति की जाने वाली 1,424 मेगावाट बिजली में से एक मेगावाट भी प्राप्त नहीं कर सकी है।

तरबूज के बीजों का इस्तेमाल, जानिए फायदे

तरबूज के बीजों का इस्तेमाल, जानिए फायदे 

सरस्वती उपाध्याय          
तरबूज के फायदों के बारे में तो आपने बहुत सुना होगा। आज जानें तरबूज के बीज के फायदों के बारे में जिन्हें आप हमेशा डस्टबिन में फेंक देते हैं। लेकिन तरबूज के बीज, उसका क्या करते हैं ? आप अगर कोई आपसे यह सवाल पूछे तो आपका जवाब भी यही होगा कि तरबूज के बीज फेंक देते हैं।
आज हम आपको तरबूज के छोटे-छोटे काले रंग के बीज के फायदों के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसे जानने के बाद आप कभी भी तरबूज के बीज को डस्टबिन में नहीं फेंकेगे। तरबूज के बीज में कैलोरीज बिल्कुल नहीं होती है और इसमें जिंक, आयरन, फोलेट, पोटैशियम जैसे न्यूट्रिएंट्स होते हैं।
इसके लिए तरबूज के बीजों को सुखा लें और फिर इन्हें हल्का सा भूनकर स्नैक के तौर पर खा सकते हैं। तरबूज के बीज में कॉपर, मैंग्नीज और पोटैशियम होता है जो हड्डियों को मजबूत बनाने में मददगार है। साथ ही बोन डेंसिटी में भी सुधार करने में मदद करता है तरबूज का बीज। तरबूज के बीज को सुखाकर खाने से ऑस्टियोपोरोसिस का खतरा कम हो जाता है। डायबिटीज कंट्रोल करने में भी फायदेमंद माने जाते हैं, तरबूज के बीज।
इसका कारण यह है कि काले रंग के ये छोटे-छोटे बीज ब्लड शुगर लेवल को कम करने में मदद करता हैं इसलिए डायबिटीज के मरीजों के लिए यह एक अच्छा स्नैक ऑप्शन हो सकता है।
तरबूज के बीज में मैग्नीशियम पाया जाता है जो हाइपरटेंशन को कंट्रोल करने में मदद करता है। हाई ब्लड प्रेशर का सीधा संबंध हृदय रोग से होता है। नियमित रूप से इन बीजों का सेवन करने से ब्लड प्रेशर कंट्रोल में रहता है और हार्ट हेल्दी। मुंहासे और चेहरे पर बढ़ती उम्र के निशान दिखने जैसी समस्याओं को दूर कर सकता है तरबूज का बीज। इन्हें सुखाकर और भूनकर खाने से आपकी स्किन अंदर से हेल्दी और ग्लोइंग बन सकती है। साथ ही बीजों में पाए जाने वाले न्यूट्रिएंट्स बालों की क्वॉलिटी बेहतर बनाने में भी मदद करते हैं और हेयर फॉल की समस्या दूर होती है।

'सामूहिक बलात्कार' का सनसनीखेज मामला

'सामूहिक बलात्कार' का सनसनीखेज मामला  

आदर्श श्रीवास्तव 
शाहजहांपुर। उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर जिलें में एक महिला के साथ 5 लोगों ने सामूहिक बलात्कार करने का सनसनीखेज मामला सामने आया है। चौंकाने वाली बात है कि गैंगरेप की वारदात को अंजाम देने के आरोपियों ने रेप का वीडियो बनाकर वायरल कर दिया। पुलिस ने पांच आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज किया है। चौंकाने वाली बात है कि गैंगरेप के बाद आरोपियों में तीन रेपिस्ट नाबालिग लड़के हैं।
फिलहाल पुलिस इन पांचों आरोपियों की तलाश में जुटी हुई है।
पुलिस अधीक्षक नगर संजय कुमार ने रविवार को बताया कि थाना मदनापुर इलाके की एक गांव की रहने वाली 30 वर्षीय महिला की शिकायत पर सामूहिक दुराचार का मामला दर्ज किया गया है। सामूहिक बलात्कार के वीडियो की जांच के साथ महिला से बातचीत कर मामले की जांच की जा रही है। 
उन्होंने बताया कि महिला ने शिकायत में कहा, ’22 अप्रैल को वह अपने घर के बाहर थी तभी उसी गांव के रहने वाले आरोपी रवि सिंह, अरुण कुमार सिंह, मोनू सिंह, जागेस सिंह तथा प्रधान नामक व्यक्ति आ गए और उसे घर के बाहर झाड़ियों में खींच ले गए इसके बाद उन्होंने बारी-बारी से उसके साथ बलात्कार किया है।
पुलिस ने बताया कि इस गैंगरेप के एक रेपिस्ट ने रेप का वीडियो बना लिया और उसे घटना के 1 सप्ताह बाद वायरल कर दिया। वीडियो वायरल होने के बाद महिला की ओर से शनिवार रात में मामला दर्ज कराया गया है। आरोपियों में 3 आरोपी नाबालिग बताए जा रहे हैं।
फिलहाल पुलिस ने 5 लोगों के विरुद्ध सामूहिक दुराचार का मामला दर्ज कर लिया है और वायरल वीडियो का परीक्षण किया जा रहा है। आरोपी घटना के बाद से फरार हैं, जिनकी तलाश की जा रही है।

लापरवाही: दूसरी डोज 'एंटी रेबीज' का इंजेक्शन

लापरवाही: दूसरी डोज 'एंटी रेबीज' का इंजेक्शन 

आदर्श श्रीवास्तव
लखीमपुर खीरी। उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में स्वास्थ्य विभाग की बड़ी लापरवाही सामने आई है। यहां कोरोना वैक्सीन की दूसरी डोज लगवाने पहुंचे युवक को एंटी रेबीज का इंजेक्शन लगा दिया गया।
यह मामला लखीमपुर खीरी के फूलबेहड़ सीएचसी का है। जहां पर शिवम जायसवाल नाम का युवक अपने कोविड वैक्सीन की दूसरी डोज लगवाने गया था। आरोप है कि वहां पर स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी ने शिवम को एंटी रेबीज का इंजेक्शन लगा दिया। जब शिवम को इसकी जानकारी हुई तो वो अपने भाई के साथ सीएचसी में जानकारी लेने गया तो उसके उसके भाई के साथ वहां मौजूद कर्मचारी ने अभद्र व्यवहार किया। किसी युवक ने इस पूरी घटना का वीडियो बनाकर सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया।
शिवम के बड़े भाई हरीश जयसवाल ने बताया उसका छोटा सीएचसी फूलबेहड़ कोविड वैक्सीन की दूसरी डोज का इंजेक्शन लगवाने गया था। उसको वहां मौजूद स्वास्थकर्मी ने एंटी रेबीज का इंजेक्शन लगा दिया। जब इसकी जानकारी वह स्वास्थ विभाग के कर्मचारी से करने गए तो उनके साथ वहां मौजूद कर्मचारी ने अभद्र व्यवहार करते हुए गाली गलौज की।
वहीं जिले के सीएमओ शैलेंद्र भटनागर इस बाबत पूछा गया तो उन्होंने इस मामले को भी जांच के बाद कार्रवाई करने का आश्वासन देते हुए अपना पल्ला झाड़ लिया। बता दें कि लखीमपुर खीरी में स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही का यह पहला मामला नहीं है। इससे दो दिन पूर्व भी जिला अस्पताल में बने डायलिसिस सेंटर पर बिना डॉक्टर की मौजूदगी में टेक्नीशियन ने एक युवक की डायलिसिस कर दी थी। इस युवकी की डायलिसिस दौरान ही मौत हो गई थी।

अभिनेत्री ने फैंस के लिए नई तस्वीरें शेयर की

अभिनेत्री ने फैंस के लिए नई तस्वीरें शेयर की 

कविता गर्ग
मुंबई। बॉलीवुड अभिनेत्री दिशा पाटनी समय-समय पर फैंस के लिए अपनी फोटोज शेयर करती रहती हैं। हाल ही में अभिनेत्री दिशा ने इंस्टाग्राम अकाउंट पर अपनी कुछ नई तस्वीरें शेयर की हैं‌‌। जिसमें वह हल्के पर्पल कलर की मिनी ड्रेस में नजर आ रही हैं। उनका ये हॉट लुक इंटरनेट पर छा गया है। फैंस कमेंट सेक्शन में उनकी जमकर तारीफ कर रहे हैं।
एक्ट्रेस ने कैमरे से सामने अलग-अलग पोज में फोटोज क्लिक करवाई हैं, जिसमें उनका बोल्ड अंदाज देखा जा सकता है। तस्वीरों में दिशा के लुक के अलावा उनकी ड्रेस की खूब चर्चा हो रही है। उनकी ये ड्रेस बहुत मंहगी है, जिसकी कीमत सुनकर माथा चकरा जाएगा।
अगर आप भी इस ड्रेस को खरीदना चाहते हैं, तो इसके लिए बहुत पैसे खर्च करने पड़ेंगे। रिपोर्ट्स की मानें तो दिशा की ये ड्रेस 97,882 रुपये की है, यानी आपको इस ड्रेस के लिए लगभग एक लाख रुपये चुकाने होंगे। मालूम हो कि इस ड्रेस में दिशा रूमर्ड बॉयफ्रेंड टाइगर श्रॉफ की फिल्म 'हीरोपंती 2' की स्क्रीनिंग पर पहुंची थीं।

जीएसटी: 1,67,540 करोड़ पर पहुंचा 'संग्रह'

जीएसटी: 1,67,540 करोड़ पर पहुंचा 'संग्रह' 

डॉक्टर सुभाषचंद्र गहलोत   
नई दिल्ली। देश का सकल वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) राजस्व संग्रह इस वर्ष अप्रैल में पिछले माह के 1,42,095 करोड़ रुपये के मुकाबले 25 हजार करोड़ रुपये बढ़कर अबतक के रिकॉर्ड 1,67,540 करोड़ रुपये पर पहुंच गया। वित्त मंत्रालय की ओर से रविवार को जारी आंकड़ों के अनुसार, अप्रैल 2022 में कुल 1,67,540 करोड़ रुपये जीएसटी राजस्व संग्रहित किया गया। जो मार्च 2022 के 1,42,095 करोड़ रुपये से 25 हजार करोड़ रुपये अधिक है।
जीएसटी प्रणाली लागू होने के बाद का यह सबसे अधिक जीएसटी राजस्व संग्रह है। अप्रैल, 2022 के महीने में सकल जीएसटी राजस्व 1,67,540 करोड़ रुपये है, जिसमें से सीजीएसटी 33,159 करोड़ रुपये, एसजीएसटी 41,793 करोड़ रुपये, वस्तुओं के आयात पर एकत्रित 36,705 करोड़ रुपये सहित आईजीएसटी 81,939 करोड़ रुपये और माल के आयात पर एकत्रित 857 करोड़ रुपये सहित उपकर 10,649 करोड़ रुपये है।
सरकार ने आईजीएसटी से 33,423 करोड़ रुपये सीजीएसटी और 26962 करोड़ रुपये एसजीएसटी तय किए हैं। नियमित निपटान के बाद अप्रैल 2022 में केंद्र और राज्यों का कुल राजस्व सीजीएसटी के लिए 66,582 करोड़ रुपये और एसजीएसटी के लिए 68,755 करोड़ रुपये है। अप्रैल 2022 का राजस्व पिछले साल के इसी महीने में जीएसटी राजस्व से 20 प्रतिशत अधिक है।
जीएसटी प्रणाली लागू होने के बाद इस वर्ष अप्रैल में पहली बार कुल जीएसटी राजस्व संग्रह 1.5 लाख करोड़ रुपये के स्तर को पार कर गया है। मार्च 2022 में कुल 7.7 करोड़ ई-वे बिल सृजित हुए, जो फरवरी 2022 में सृजित 6.8 करोड़ ई-वे बिल से 13 प्रतिशत अधिक है। यह देश में तेज गति से व्यावसायिक गतिविधि को दर्शाता है। इस वर्ष अप्रैल के दौरान जीएसटीआर-3बी में 1.06 करोड़ जीएसटी रिटर्न दाखिल किए गए, जिनमें से 97 लाख मार्च में दाखिल किए गए रिटर्न हैं। अप्रैल 2021 के दौरान कुल 92 लाख रिटर्न दाखिल किए गए थे।

केरल: पूर्व विधायक की गिरफ्तारी, तनाव व्याप्त

केरल: पूर्व विधायक की गिरफ्तारी, तनाव व्याप्त 

इकबाल अंसारी  
तिरुवनंतपुरम। मुस्लिम समुदाय के खिलाफ टिप्पणी के लिए केरल के पूर्व विधायक एवं केरल जनपक्षम (सेक्युलर) के नेता पीसी जॉर्ज की रविवार को गिरफ्तारी के बाद से केरल में तनाव व्याप्त है। गिरफ्तारी के खिलाफ विरोध मार्च निकाल रहे भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) कार्यकर्ताओं ने विधायक को उनके घर से तिरुवनंतपुरम के फोर्ट थाने ले जा रही पुलिस वैन को रविवार सुबह कोट्टायम जिले के एराट्टुपेटा में रोक दिया।
विधायक को समर्थन दे रहे भाजपा कार्यकर्ताओं ने पुलिस दल के वट्टप्पारा पहुंचने पर उनके वाहनों को रोक दिया और पुलिस कार्रवाई के लिए पिनाराई विजयन सरकार के खिलाफ नारे लगाये। इस बीच, मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी समर्थक डीवाईएफआई कार्यकर्ताओं ने काले झंडे लहराये और पूर्व विधायक के वाहन पर अंडे फेंके जिससे इलाके में तनाव पैदा हो गया।
डीवाईएफआई ने कई जगहों पर विरोध मार्च भी निकाला और जॉर्ज से उनकी मुस्लिम विरोधी टिप्पणी के लिए माफी मांगने की मांग की। बाद में पूर्व विधायक को एआर कैंप लाया गया जहां उनकी गिरफ्तारी दर्ज की गई। गिरफ्तारी के विरोध में बड़ी संख्या में भाजपा कार्यकर्ता एआर कैंप के सामने जमा हो गये, जिससे तनाव फैल गया। डीवाईएफआई के कार्यकर्ताओं ने भी बड़ी संख्या में जॉर्ज के खिलाफ नारे लगाए और एआर कैंप में उनके आगमन पर काले झंडे लहराए।

'आदिवासी संकल्प महासम्मेलन' में हिस्सा लिया

'आदिवासी संकल्प महासम्मेलन' में हिस्सा लिया 

इकबाल अंसारी  
अहमदाबाद। रविवार को आप के राष्ट्रीय संयोजक व दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भरूच में आदिवासी संकल्प महासम्मेलन में हिस्सा लिया। इस दौरान उन्होंने भाजपा और कांग्रेस पर निशाना साधा। केजरीवाल ने कहा, हम गरीबों और आम लोगों की पार्टी हैं। हम आपके साथ खड़े हैं।
अरविंद केजरीवाल ने कहा भाजपा और कांग्रेस सिर्फ अमीरों को अमीर बना रही हैं, लेकिन आप हमें एक मौका दीजिए। हम आपकी गरीबी दूर कर देंगे। हम लोग आपके साथ खड़े हैं। उन्होंने कहा हमें एक मौका दे दो अगर पांच साल में यहां के स्कूल ठीक नहीं किए तो हमें भगा दीजिएगा।

ईद व अन्य त्योहारों में 'विद्युत आपूर्ति' के प्रबंध

ईद व अन्य त्योहारों में 'विद्युत आपूर्ति' के प्रबंध

संदीप मिश्र  
लखनऊ। भीषण गर्मी के बीच कोयले की कमी और कुछ ताप बिजलीघरों में तकनीकी दिक्कतों के चलते बिजली संकट के शिकार उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अधिकारियों को निर्देश दिये हैं कि ईद और अन्य त्योहारों में पर्याप्त विद्युत आपूर्ति के प्रबंध किये जायें। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रविवार को उच्च स्तरीय टीम-9 की बैठक में कहा कि अक्षय तृतीया, परशुराम जयंती और ईद के अवसर पर बिजली आपूर्ति सुचारू रखें। अनावश्यक कटौती न हो। धार्मिक स्थलों के आसपास स्वच्छता, पेयजल आदि के प्रबंध किए जाएं। लोगों की सुविधाओं का ध्यान रखें।

उन्होने बताया कि विगत दिवस दिल्ली यात्रा के दौरान उनकी केन्द्रीय गृह मंत्री, ऊर्जा मंत्री और रेल मंत्री के साथ बिजली आपूर्ति के सम्बंध में सकारात्मक बातचीत हुई। तीनों ने पूर्ण सहयोग का आश्वासन दिया है। कोयले की ढुलाई के लिए रेलवे हमें अतिरिक्त रैक देने जा जा रहा है तो केन्द्र सरकार से अतिरिक्त बिजली भी प्राप्त होगी। रोस्टर के अनुरूप निर्बाध बिजली आपूर्ति के लिए समुचित प्रबंध किए जाएं। फिलहाल स्थिति सामान्य है और रोस्टर के अनुरूप बिजली आपूर्ति सुनिश्चित कराएं।मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रत्येक दशा में यह सुनिश्चित किया जाए कि एक भी उपभोक्ता को गलत बिजली बिल न मिले और सभी को समय से बिल मिल जाए। ओवरबिलिंग अथवा विलंब से बिल दिया जाना उपभोक्ता को परेशान तो करती ही है, व्यवस्था के प्रति निराश भी करती है और वह बिल जमा करने के प्रति उत्साहित नहीं होता। ऐसे में समय से बिल और सही बिल दिया जाना सुनिश्चित करें। इसके लिए ठोस कार्ययोजना बनाने की जरूरत है।उन्होने कहा कि बिजली आपूर्ति होती रहे इसके लिए बिल का भुगतान जरूरी है। बिजली का उपभोग करने वाले हर उपभोक्ता की यह ज़िम्मेदारी है कि वह समय से बिजली बिल का भुगतान करे। ऊर्जा विभाग/विद्युत निगमों को बिल के समयबद्ध संकलन के लिए ठोस प्रयास करना होगा। बकायेदारों से लगातार संपर्क करें, संवाद करें। समय से बिल भेजें, सही बिल दें। कलेक्शन सिस्टम में सुधार की जरूरत है।


खास इरादे से 'आधारित राजनीति' करने का आरोप

खास इरादे से 'आधारित राजनीति' करने का आरोप

अकांशु उपाध्याय

नई दिल्ली। देश के 197 सेवानिवृत्त न्यायाधीशों, प्रशासनिक अधिकारियों और पूर्व सैन्य अधिकारियों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम एक खुला पत्र लिखकर पूर्व 108 अधिकारियों के उस समूह पर खास इरादे पर 'आधारित राजनीति' करने का आरोप लगाते हुए उसकी भर्त्सना की है। जिसने कांस्टिट्यूशनल कंडक्ट ग्रुप (सीसीजी) नाम से प्रधानमंत्री को कुछ दिन पहले खुला पत्र लिखकर घृणा की राजनीति समाप्त करने मांग की थी। इन 197 अधिकारियों ने अपने को कंसर्न सिटीजन्स (संवेदनशील नागरिक) के रूप में प्रस्तुत करते हुए कहा है कि किसी समूह की ओर से “खास इरादे से प्रेरित पक्षपातपूर्ण राजनैतिक वक्तव्य को स्वीकार नहीं किया जा सकता।” 

उन्होंने प्रधानमंत्री को लिखे खुले पत्र में कहा है,'हमें, एक संवेदनशील नागरिक होने के नाते नहीं लगता की एक स्वयंभू कांस्टिट्यूशनल कंडक्ट ग्रुप (सीसीजी) की ओर से प्रधानमंत्री को एक ओर खुला पत्र लिखकर उनसे घृणा की राजनीति समाप्त करने की मांग में कोई गंभीरता है।उनका कहना है कि ऐसा बार-बार करके अपने प्रति लोगों का ध्यान आकर्षित करना चाहता है और यह साबित करना चाहता है कि वह बड़े ऊंचे सामाजिक सरोकार रखने वाले व्यक्तियों का समूह है जबकि इसके पीछे उनकी मोदी विरोधी राजनीति छुपी है। श्री मोदी को खुला पत्र लिखने वाले कंसर्न सिटीजन्स के समूह की समन्वयक पूर्व राजदूत भास्वती मुखर्जी और पूर्व लेफ्टिनेंट जनरल अरुण साहनी हैं। इस पर सिक्किम उच्च न्यायालय पूर्व मुख्य न्यायाधीश प्रमोद कोहली, राजस्थान उच्च न्यायालय के पूर्व न्यायाधीश आर एस राठौड, पूर्व कृषि सचिव प्रबीर कुमार बसु, रॉ के पूर्व प्रमुख संजीव त्रिपाठी, महाराष्ट्र के पूर्व पुलिस प्रमुख प्रवीण दीक्षित, पूर्व राजनयिक जे एस सप्रा, पंजाब के पूर्व पुलिस प्रमुख पी सी डोगरा, केरल के पूर्व पुलिस प्रमुख डॉ टी पी सेनकुमार, हरियाणा के पूर्व मुख्य सचिव सुधीर शर्मा, पूर्व लेफ्टिजेंट जनरल वी के चतुर्वेदी और नितिन कोहली, पूर्व एयर मार्शल पी के रॉय, पूर्व एयर वाइस मार्शल आर पी मिश्रा, पूर्व मेजर जनरल डॉ एस एस दसाका के हस्ताक्षर हैं।

राजनयिकों के यूक्रेन लौटने का मुद्दा, चर्चा की

राजनयिकों के यूक्रेन लौटने का मुद्दा, चर्चा की  

सुनील श्रीवास्तव
वाशिंगटन डीसी। अमेरिका विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन ने यूक्रेन के विदेश मंत्री दिमित्रो कुलेबा से अमेरिकी राजनयिकों के यूक्रेन लौटने के मुद्दे पर चर्चा की।
अमेरिका के विदेश विभाग के प्रवक्ता नेड प्राइस ने यह जानकारी दी। उन्होंने कहा, "विदेश मंत्री एंटनी जे ब्लिंकन ने आज यूक्रेनी विदेश मंत्री दिमित्रो कुलेबा से बीत की और कीव में उनकी 24 अप्रैल की बैठक को लेकर चर्चा की।
ब्लिंकन ने अमेरिकी राजनयिकों के यूक्रेन लौटने की योजना पर जानकारी हासिल की, जिसमें इस सप्ताह कीव की प्रारंभिक यात्राएं शामिल हैं और जितनी जल्दी हो सके कीव लौटने की योजना है। दोनों नेताओं ने “रूस को युद्ध में हराने के लिए यूक्रेन को सशक्त बनाने हेतु सुरक्षा, आर्थिक और मानवीय सहायता में 33 अरब डॉलर की सहायता के 28 अप्रैल के अनुरोध पर भी चर्चा की।

गैस-सिलेंडर की कीमतों में ₹102 की बढ़ोतरी

गैस-सिलेंडर की कीमतों में ₹102 की बढ़ोतरी

अकांशु उपाध्याय   
नई दिल्ली। गैस-सिलेंडर मे लगी बढ़ोतरी की आग ठंडी होती हुई, दिखाई नहीं दे रही है। देश की पेट्रोलियम कंपनियों ने अब एक बार फिर से कमर्शियल गैस-सिलेंडर की कीमतों में 102 रुपये की भारी-भरकम बढ़ोतरी कर दी है। जिसके चलते राजधानी दिल्ली में अब कमर्शियल गैस सिलेंडर की कीमत 2,355 रुपए पर पहुंच गई है। रविवार को देश की पेट्रोलियम कंपनियों ने एक बार फिर से कमर्शियल गैस-सिलेंडर के उपभोक्ताओं को जोर का झटका धीरे से दिया है।
102 रुपये की बढ़ोतरी करते हुए पेट्रोलियम कंपनियों ने कमर्शियल गैस सिलेंडर के दाम और अधिक ऊंचाई पर पहुंचा दिए हैं। 
हालांकि, घरेलू गैस सिलेंडरों की कीमतों में फिलहाल, कोई इजाफा नहीं किया गया है। मगर जिस तरह से कमर्शियल गैस सिलेंडर के दाम 102 रुपये बढ़ाए गए हैं। उसका सीधा असर रेस्टोरेंट्स आदि पर मिलने वाली खाने पीने की चीजों के दामों में देखने को मिल सकता है।


एक्ट्रेस के इंस्टाग्राम पर 1.3 मिलियन फोलोअर्स

एक्ट्रेस के इंस्टाग्राम पर 1.3 मिलियन फोलोअर्स

कविता गर्ग 
मुंबई। बॉलीवुड ‘प्यार का पंचनामा’ से लोगों को अपना दीवाना बनाने वाली एक्ट्रेस सोनाली सहगल काम से ज्यादा अपने स्वैग और फैशनेबल अंदाज के लिए जानी जाती हैं‌। एक्ट्रेस ने अपने 10 साल के करियर में ज्यादा फिल्मों में तो काम नहीं किया है, लेकिन अपने बोल्ड अंदाज से वह फैंस को काफी इंप्रेस करती नजर आती हैं। वह सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव हैं, अपनी ग्लैमरस फोटो और वीडियोज सोशल मीडिया पर शेयर करती रहती हैं‌।
फैंस भी सोनाली के लुक्स और स्टाइल के दीवाने हैं। सोशल मीडिया पर सोनाली की बहुत बड़ी फैन फॉलोइंग है। इंस्टाग्राम पर सोनाली सहगल को 1.3 मिलियन लोग फॉलो करते हैं। एक खास अंदाज के चलते फैंस को उनके लेटेस्ट पोस्ट का बेसब्री से इंतजार रहता है।
रविवार को सोनाली का जन्मदिन है, तो इस खास मौके पर जानते हैं, उनसे जुड़ी कुछ खास बातें...
फिल्म इंडस्ट्री से जुड़ी सोनाली सहगल एक अच्छे और एजुकेटेड बैकग्राउंड से आती हैं‌। 1 मई 1989 को जन्मी सोनाली के पिता एक रिटायर्ड इंडियन आर्मी ऑफिसर हैं और उनकी मां निशि सहगल मुंबई में SREI में वाइस प्रेसिडेंट हैं। वहीं, उनके छोटे भाई आयुष सहगल कॉग्निजेंट में टीम लीड हैं‌। एक्ट्रेस अपनी मां के साथ मुंबई में रहती हैं।
जीत चुकी हैं फेमिना मिस इंडिया इंटरनेशनल का खिताब...
सोनाली बचपन से मॉडल ही बनना चाहती थीं। उन्होंने अपने करियर की शुरुआत एक मॉडल के रूप में की। साल 2006 में वह पैंटालून्स फेमिना मिस इंडिया इंटरनेशनल का खिताब भी जीत चुकी हैं। इसके बाद उन्होंने जापान और चीन में आयोजित मिस इंटरनेशनल प्रतियोगिता में भारत का प्रतिनिधित्व किया और टॉप 12 में जगह बनाने में कामयाब रहीं।
सोनाली को हिंदी फिल्म इंडस्ट्री में आने का पहला मौका साल 2010 में लव रंजन की फिल्म ‘प्यार का पंचनामा’ से मिला और इसी फिल्म से उन्हें पॉपुलैरिटी भी मिली। इसके आलावा, वह ‘वेडिंग पुलाव’, ‘बूंदी रायता’, ‘हाई जैक’, ‘सेटर्स’ और ‘जय मम्मी दी’ और ‘सोनू के टीटू की स्वीटी’ जैसी फिल्मों में भी काम कर चुकी हैं‌।
फिल्मों के अलावा सोनाली प्लेबैक सिंगर आतिफ असलम के वीडियो ‘प्रेम’ में भी नजर आ चुकी हैं। वहीं, कई रियलिटी शो में बतौर होस्ट भी नजर आ चुकी हैं। इन सबके साथ, वह घूमने फिरने की बहुत शौकीन हैं, जहां भी जाती हैं वहां की फोटोज फैंस के लिए शेयर जरूर करती हैं।
फिटनेस और बॉडी फिगर को लेकर हैं बहुत सावधान...
सोनाली अपनी फिटनेस और बॉडी फिगर को लेकर भी चर्चा में रहती हैं। वह अपनी फिटनेस पर ध्यान देना काफी पसंद करती हैं।ये बात तो एक्ट्रेस के सोशल मीडिया पोस्ट्स को देखकर ही पता चल जाता है। एक्ट्रेस को प्रकृति के करीब रहना और योग करना बहुत पसंद है। कोरोना महामारी के दौरान उन्होंने योग और कुछ और नई चीजें सीखकर लॉकडाउन में मिले फ्री टाइम का अच्छा इस्तेमाल किया।

हाई ब्लड प्रेशर की समस्या को कंट्रोल में रखें

हाई ब्लड प्रेशर की समस्या को कंट्रोल में रखें  

सरस्वती उपाध्याय  
हाइपरटेंशन या हाई ब्लड प्रेशर की समस्या से आज कई लोग परेशान रहते हैं। यह एक कॉमन समस्या बनती जा रही है। उच्च रक्तचाप के लिए कई कारक जिम्मेदार हैं। कुछ लोगों में अधिक स्ट्रेस, एंग्जायटी के कारण हाइपरटेंशन की समस्या होती है, तो कुछ में काम का प्रेशर, डेडलाइन, अनहेल्दी लाइफस्टाइल, खानपान खराब होना, कम सोना आदि आदतों के कारण ब्लड प्रेशर हाई रहने लगता है। यदि इसे समय पर सामान्य बनाए रखने के उपाय ना किए जाएं तो आपको कई तरह की गंभीर समस्या हो सकती हैं। कुछ लोग ब्लड प्रेशर कम करने के लिए दवाओं का सेवन करने लगते हैं, जो सही नहीं है। यदि आप नियमित रूप से एक्सरसाइज करें, हेल्दी चीजों का सेवन करें, एक्टिव जीवन जिएं, तो रक्तचाप को हाई होने से बचाए रख सकते हैं। क्या आप जानते हैं कि कई ऐसे मौसमी फल हैं ? जिन्हें खाने से आप अपना हाई ब्लड प्रेशर कंट्रोल में रख सकते हैं।

कीवी हार्ट के लिए है हेल्दी...
ओन्लीमाईहेल्थ में छपी एक रिपोर्ट के अनुसार, कीवी खाने से आप हाइपरटेंशन की समस्या को कंट्रोल में रख सकते हैं। कीवी एक बेहद ही स्वास्थ्यवर्धक फल है, जो डाइजेशन से लेकर इम्यूनिटी को बूस्ट करता है। इसे खाने से स्किन भी हेल्दी रहती है और ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करने में मदद मिलती है। कीवी में एंटीऑक्सीडेंट्स होता है, जो ब्लड प्रेशर को मैंनेज करता है। आप प्रतिदिन दो से तीन कीवी का सेवन करके हाई ब्लड प्रेशर, स्ट्रोक, हार्ट अटैक जैसी समस्याओं से खुद का बचाव करते हुए दिल को स्वस्थ रख सकते हैं।

तरबूज खाएं, हाइपरटेंशन से बचें...
गर्मी में तबसे ज्यादा कोई फल लोग खाना पसंद करते हैं, तो तरबूज। इस फल में पानी सबसे अधिक होता है, जो शरीर को तरोताजा, कूल और हाइड्रेटेड रखता है। यह फल ब्लड प्रेशर को भी कंट्रोल में रखता है। ब्लड प्रेशर का इलाज सही समय पर ना कराया जाए, तो यह सेहत के लिए खतरनाक साबित हो सकता है। इससे हार्ट डिजीज होने का खतरा बढ़ जाता है। आप अपनी लाइफस्टाइल में बदलाव लाकर, हेल्दी डाइट का सेवन करके हाई ब्लड प्रेशर को कम कर सकते हैं। तरबूज में पोटैशियम की मात्रा अधिक होती है, जो रक्तचाप को मैनेज करता है, साथ ही इसमें एंटीऑक्सीडेंट और विटामिन-सी भी होता है।

आम फ्रूट्स...
गर्मी के मौसम में भला आम ना खाएं, ऐसा तो हो ही नहीं सकता है। आम तो उन्हें भी खाना चाहिए, जिन्हें हाइपरटेंशन की शिकायत रहती है। आम में पोटैशियम भरपूर होता है, जो उच्च रक्तचाप को मैनेज करने के लिए एक आदर्श फल है। आप मैंगो शेक, स्मूदी, फ्रूट चार्ट या फिर आम को काटकर भी खा सकते हैं।

केला फ्रूट्स...
पोटैशियम हाई ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करने में अहम भूमिका निभाता है। केला एक ऐसा फल है, जिसमें पोटैशियम प्रचुर मात्रा में मौजूद होता है। एक बेहद ही सस्ता फल, जिसे कोई भी खरीद कर खा सकता है। हर दिन एक से दो केला खाएं और अपने उच्च रक्तचाप को नॉर्मल बनाए रखें।


खास आपत्तिजनक टिप्पणी की, हिरासत में लिया

खास आपत्तिजनक टिप्पणी की, हिरासत में लिया

इकबाल अंसारी 
तिरुवनंतपुरम। केरल के वरिष्ठ राजनेता पी सी जॉर्ज को मुसलमानों के खिलाफ उनकी कथित आपत्तिजनक टिप्पणी के लिए रविवार को पुलिस ने हिरासत में ले लिया। अधिकारियों ने यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि तिरुवनंतपुरम स्थित फोर्ट थाने की पुलिस ने जॉर्ज को रविवार तड़के कोट्टायम जिले के एराट्टुपेट्टा स्थित उनके आवास से हिरासत में ले लिया। केरल पुलिस ने शनिवार को जॉर्ज के खिलाफ तिरुवनंतपुरम में एक सम्मेलन में दिए भाषण के जरिये धार्मिक घृणा को बढ़ावा देने के आरोप में मामला दर्ज किया था।
अधिकारियों के अनुसार, राज्य के पुलिस प्रमुख अनिल कांत के निर्देश पर फोर्ट थाने की पुलिस ने पूर्व विधायक के खिलाफ स्वत: संज्ञान लेते हुए कार्रवाई की। उन्होंने बताया कि जॉर्ज के खिलाफ भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा-153ए (विभिन्न समूहों के बीच दुश्मनी को बढ़ावा देना) के तहत मामला दर्ज किया गया था और उन्हें तिरुवनंतपुरम लाया जा रहा है। केरल कांग्रेस के पूर्व नेता जॉर्ज ने राज्य में गैर-मुस्लिमों को मुस्लिम समुदाय द्वारा संचालित रेस्तरां से परहेज करने के लिए कहा था, जिसे लेकर विवाद शुरू हो गया है। शुक्रवार को यहां चल रहे अनंतपुरी हिंदू महा सम्मेलन के तहत आयोजित एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए जॉर्ज ने आरोप लगाया था कि मुस्लिमों द्वारा संचालित रेस्तरां में ‘नपुंसकता का कारण बनने वाली बूंदो’ से बनी चाय बेची जा रही है, जिसका मकसद देश पर ‘नियंत्रण हासिल करने के लिए’ लोगों की संतानोत्पत्ति की क्षमता छीनना है।
केरल विधानसभा में 33 वर्षों तक पूंजर सीट का प्रतिनिधित्व करने वाले 70 वर्षीय जॉर्ज ने गैर-मुस्लिमों से मुस्लिमों द्वारा संचालित व्यवसायों का बहिष्कार करने का भी अनुरोध किया था। राज्य में सत्तारूढ़ सीपीआई(एम) और विपक्षी दल कांग्रेस ने जॉर्ज की टिप्पणी की निंदा की थी।

ट्विंकल के अतीत से जुड़े मजेदार किस्से शेयर

ट्विंकल के अतीत से जुड़े मजेदार किस्से शेयर 

कविता गर्ग
मुंबई। ट्विंकल खन्ना ने अब एक्टिंग से दूरी बना ली है। लेकिन जब तक उन्होंने कैमरे का सामने एक्टिंग तब के खूब मजेदार किस्से उनके पास हैं, जिनको अब वह याद करती हैं। साल 1999 में आई एक्शन कॉमेडी फिल्म ‘बादशाह’ का हाल में उन्होंने मजेदार किस्सा शेयर किया। उन्होंने बताया कि कैसे मनीष मल्होत्रा द्वारा डिजाइन किए गए कपड़ों में फिट आने और खुद को पतला दिखाने के लिए उन्होंने एक हफ्ता पूरा सिर्फ चने खाकर गुजारा था।
ट्विंकल खन्ना सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव रहती हैं और अक्सर अपनी व्यूज को शेयर करती रहती हैं। हाल ही में फैशन डिजाइनर मनीष मल्होत्रा के साथ अपने यूट्यूब चैनल ट्वीक इंड‍िया में ट्व‍िंकल ने ‘बादशाह’ फिल्म के गाने ‘मोहब्बत हो गई है’ का किस्सा साझा किया, जिसको सुनने के बाद फैंस खुद को मुस्कुराने से रोक नहीं पा रहे हैं।
‘बादशाह’ में ट्विंकल के लिए मनीष मल्होत्रा ने कपड़े किए थे डिजाइन।
‘बादशाह’ एक कॉमेडी-एक्शन फिल्म थी। फिल्म को हिट हुई ही थी, इसके सभी गाने भी बहुत पॉप्युलर हुए थे। ऐसे ही इसका एक सॉन्ग था ‘मोहब्बत हो गई है’, जिसे पहाड़ियों और नदी के किनारे फिल्माया गया था। इस गाने में एक्ट्रेस ने मनीष मल्होत्रा के डिजाइन किए हुए कपड़े पहने थे, जो उनके शरीर से एकदम चिपके हुए थे। ट्विंकल ने रेड कैटसूट टाइप आउटफ‍िट, ब्लैक जंपसूट, व्हाइट ट्राउजर्स, ग्रे क्रॉप टॉप के साथ जैकेट, फ्लोरल क्रॉप टॉप के साथ ब्लैक ट्राउजर्स, मेजेंटा टॉप, मैच‍िंग हाफ श्रग, ब्लैक मिनी स्कर्ट विद स्ल‍िट पहने हुए थे। गाने एक सीक्वेंस में शाहरुख और ट्व‍िंकल एलीवेटर में डांस करते हैं, जिसमें शाहरुख, ट्व‍िंकल को गोद में उठाते हैं‌।
पूरे हफ्ते मैंने सिर्फ चने खाए। ट्व‍िंकल
ट्व‍िंकल ने गाने के इस सीक्वेंस को याद कर बताया, ‘हर बार जब भी मुझे मनीष मल्होत्रा के कपड़े पहनने होते थे, तो उसका मतलब होता था क‍ि या तो मैं खाना नहीं खा रही हूं या मुझे अपना पेट दबाना पड़ता था‌। एक गाना था, जहां कपड़े आपने पहनकर दिखा लिए और उस पूरे हफ्ते मैंने सिर्फ चने खाए और मैं बहुत डरी हुई थी क्योंक‍ि मुझे लगा क‍ि अगर हीरो मुझे गोद में उठाएगा तो मैं गैस के बॉल जैसी रहूंगी क्योंक‍ि मैंने सिर्फ चने खाए थे लेकिन करें तो भी क्या कपड़े पहनने के लिए आपको यही करना पड़ता है।
‘मनीष मल्होत्रा बोले निर्देशकों की तब यहीं डिमांड थी’
ट्व‍िंकल की ये बात सुन मनीष ने खुलासा किया कि ‘रंगीला’ में उर्मिला मातोंडकर के कपड़े डिजाइन करने के बाद इस तरह के कपड़े चलन में थे और उन्होंने कहा कि वे जिन निर्देशकों के साथ काम कर रहे थे, वे ग्लैमरस और छोटे कपड़े चाहते थे। उन्होंने ट्विंकल से कहा कि उस समय ऐसा चलन था कि आपको भी उसका शिकार होना पड़ा।

सेहत के लिए कारगर हैं 'आम की गुठली'

सेहत के लिए कारगर हैं 'आम की गुठली'    

आम एक ऐसा फल है, जिसका नाम लेते ही मुंह में पानी आ जाता है। एक कहावत तो आपने सुनी ही होगी, ‘आम के आम और गुठलियों के भी दाम’, मतलब आम का भी मजा लो और गुठलियों की भी कीमत वसूल हो जाए। खैर, ये कहावत कई मायनों में सही साबित हो रही है, क्योंकि आम ही नहीं बल्कि उसकी गुठली भी आपको कई स्वास्थ्य लाभ देती है। जी हां, अगर आप आम खाकर गुठली फेंकने की गलती कर रहे हैं, तो आपको ऐसा करने से बचाना चाहिए। आम की तरह इसकी गुठली में भी कई ऐसे पोषक तत्व पाए जाते हैं। जिनमें कोलेस्ट्रॉल, डायरिया और हार्ट से जुड़ी बीमारियों से लड़ने की क्षमता होती है। चलिए जानते हैं, सेहत को दुरुस्त रखने के लिए आम की गुठली कितनी कारगर है और इसका इस्तेमाल कैसे किया जाना चाहिए।

लूज मोशन में करेगी काम...
दस्त (लूज मोशन) जैसी समस्याओं से बचने के लिए आम की गुठली या गुठली का चूर्ण लेने की सलाह दी जाती है। इसके लिए आम की गुठली को अच्छी तरह से सुखा लें और उसे पीसकर दरदरा पाउडर बना लें। आप इस चूर्ण को एक गिलास पानी में मिलकार इसमें थोड़ा सा शहद मिलाकर सेवन कर सकते हैं। सुनिश्चित करें कि आप एक बार में 1 ग्राम से ज्यादा गिरी पाउडर का सेवन ना करें।

कंट्रोल में रहेगा कोलेस्ट्रॉल...
कहा जाता है कि आम की गुठली ब्लड सर्कुलेशन को बढ़ावा देती है और इस तरह से ये शरीर में कोलेस्ट्रॉल लेवल को कम करने में मदद करती है। आम की गुठली के पाउडर का सेवन खराब कोलेस्ट्रॉल लेवल को कम करने में मदद करता है और ब्लड शुगर लेवल को भी कंट्रोल करता है।
आम की गुठली हार्ट से जुड़ी बीमारियों के रिस्क को कम करने में भी मदद करती है। ये आपके ब्लड प्रेशर को कंट्रोल में रखती है। इसका पाउडर खाने से हेल्थ को कई फायदे होते हैं। आप अपने आप को हेल्दी रखने के लिए कम से कम 1 ग्राम आम की गुठली के पाउडर का सेवन कर सकते हैं।
जो लोग एसिडिटी की समस्या से अक्सर परेशान रहते हैं उनके लिए आम की गुठली का पाउडर इसका उपाय है। आम की गुठली फिनोल औऱ फेनोलिक यौगिकों से भरी है, जो पाचन में सहायता करती है। एंटीऑक्सीडेंट की उपस्थिति के कारण पाउडर का सेवन शरीर में विषाक्त पदार्थों को बाहर निकलाने में भी मदद करता है।

स्कर्वी के इलाज में कारगर...
विटामिन सी से भरपूर आम की गिरी का पाउडर स्कर्वी रोगियों के लिए एक जादुई उपाय की तरह काम करता है। आपको बस इतना करना है कि एक भाग आम की गिरी के पाउडर में दो भाग गुड़ और चूना मिलाकर उसका सेवन करें। आप आमतौर पर विटामिन सी की अपनी दैनिक खुराक को पूरा करने के लिए इसका सेवन भी कर सकते हैं।

श्रीराम 'निर्भयपुत्र'


जापान में 10 फुट लंबी स्क्विड मिली: दुर्लभ

जापान में 10 फुट लंबी स्क्विड मिली: दुर्लभ 
अखिलेश पांडेय  
टोक्यो। पश्चिमी जापान में एक विशालकाय स्क्विड देखी गई है। इसकी लंबाई 10 फुट थी जो समुद्र के किनारे पर देखी गई थी। इसे गहरे समुद्र में पाए जाने वाले सबसे बड़े सेफलोपोड्स के तौर पर देखा जा रहा है। इतनी बड़ी स्क्विड का दिखना अपने आप में दुर्लभ है। माना जा रहा है कि यह पहली जीवित विशालकाय स्क्विड है, जिसे समुद्र के किनारे पर देखा गया। जापानी अखबार द मेनिची के मुताबिक, ये स्क्विड अपने घर यानी गहरे समुद्र से बहुत दूर किनारे पर दिखाई दी थी, इसलिए इसका जीवित होना किसी आश्चर्य से कम नहीं था। इसके बाद इस स्क्विड को पास के शहर साकाई में एक स्थानीय एक्वेरियम में ले जाया गया। एक वीडियो में इस स्क्विड को पानी में अपनी विशालकाय भुजाओं को फैलाते हुए देखा जा सकता है। हालांकि यह अभी स्पष्ट नहीं है कि ये स्क्विड अब भी ज़िंदा है या नहीं। हालांकि, पर्यावरणीय कारणों के चलते, उसके जीवित रहने की संभावना नहीं है। इतने बड़े स्क्विड को पहली बार नहीं देखा गया है, बल्कि इससे पहले भी गहरे समुद्र में कई विशाल स्क्विड देखे गए हैं। नेशनल ओशनिक एंड एटमॉस्फेरिक एडमिनिस्ट्रेशन (NOAA) ने भी 2019 में एक किशोर विशालकाय स्क्विड की तस्वीरें ली थीं। अंदाजा लगाया गया कि उस स्क्विड की लंबाई 10 से 12 फीट लंबी थी। स्क्विड की प्रजातियों के बारे में हम बहुत कुछ नहीं जानते। हमें अभी भी पूरी तरह से नहीं पता कि पानी में ये कहां रहती हैं।लेकिन नेशनल ज्योग्राफिक  के मुताबिक, पृथ्वी के सभी महासागरों में इनके अवशेष पाए गए हैं। यह भी माना जाता है कि जानवरों के साम्राज्य में स्क्विड की आखें ही सबसे ज़्यादा बड़ी हैं। आंखों की लंबाई करीब 10 इंच होती है। इसकी मदद से वे समुद्र की सतह से कई मील नीचे, अंधेरे में भी देख सकते हैं। द स्मिथसोनियन  के मुताबिक, वैज्ञानिकों द्वारा अब तक का सबसे बड़ा स्क्विड लगभग 43 फीट लंबा मापा गया है। 1887 में एक मृत स्क्विड पाया गया था जो शायद 60 फीट लंबा था। विशालकाय स्क्वीड आज भी वैज्ञानिकों का ध्यान खींचते हैं। और इनका दिखना भी अविश्वसनीय रूप से दुर्लभ है।

भारत: कोरोना के 3324 नए मामले सामने आए

भारत: कोरोना के 3324 नए मामले सामने आए
अकांशु उपाध्याय  
नई दिल्ली। देश में एक बार फिर कोरोना वायरस का कहर बढ़ने लगा हैं। देश में कोरोना के 3324 नए मामले सामने आए हैं, जो कल की तुलना में 9.9% कम है। देश के पांच राज्यों में सबसे ज्यादा मामले दर्ज किए गए हैं।
देश में कोरोना के एक्टिव केस की संख्या 19 हजार 092 है। दिल्ली में सबसे ज्यादा कोरोना के 1,520 मामले मिले हैं, इसके बाद हरियाणा में 490 मामले, केरल में 337 मामले, उत्तर प्रदेश में 275 मामले और महाराष्ट्र में 155 मामले सामने आए हैं।
देश में पिछले 24 घंटों में कोरोना के 40 मरीजों की मौत भी हुई, जिससे मरने वालों की कुल संख्या बढ़कर 5 लाख 23 हजार 843 हो गई है। वहीं, भारत का रिकवरी रेट अब 98.74% है।

भविष्य की सुरक्षा चुनौतियों का सामना प्राथमिकता

भविष्य की सुरक्षा चुनौतियों का सामना प्राथमिकता
अकांशु उपाध्याय  
नई दिल्ली। नवनियुक्त थल सेना प्रमुख जनरल मनोज पांडे ने रविवार को कहा कि देश के समूचे क्षेत्र में वर्तमान, समकालीन और भविष्य की सुरक्षा चुनौतियों का सामना करने के लिए बेहद उच्च मानक की संचालन संबंधी तैयारियां सुनिश्चित करना उनकी ”सर्वोच्च व सबसे महत्वपूर्ण” प्राथमिकता होगी।
जनरल पांडे ने यह भी कहा कि वह थलसेना की संचालन और कार्यात्मक दक्षता को बढ़ाने के लिए जारी सुधारों, पुनर्गठन और परिवर्तन के प्रयासों पर ध्यान केंद्रित करना चाहते हैं। जनरल पांडे थलसेना प्रमुख का पदभार संभालने के एक दिन बाद साउथ ब्लॉक के लॉन में औपचारिक ‘गार्ड ऑफ ऑनर’ दिए जाने के बाद मीडिया से बात कर रहे थे। भू-राजनीतिक स्थिति तेजी से बदल रही है, जिसके परिणामस्वरूप हमारे सामने कई चुनौतियां हैं। थलसेना प्रमुख ने कहा, मेरी सर्वोच्च व सबसे महत्वपूर्ण प्राथमिकता देश के समूचे क्षेत्र में वर्तमान, समकालीन और भविष्य की सुरक्षा चुनौतियों का सामना करने के लिए बेहद उच्च मानक की संचालन संबंधी तैयारियां सुनिश्चित करना होगी।
उन्होंने कहा कि थलसेना भारतीय वायुसेना और नौसेना के समन्वय से राष्ट्र के सामने आने वाली सभी संभावित सुरक्षा चुनौतियों से प्रभावी ढंग से निपटेगी। जनरल पांडे ने कहा, थलसेना के आधुनिकीकरण एवं क्षमता विकास के मामले में मेरा प्रयास स्वदेशीकरण के माध्यम से नयी तकनीक का लाभ उठाने का होगा। जनरल मनोज पांडे ने जनरल एमएम नरवणे के सेवानिवृत्त होने के बाद शनिवार को 29वें थलसेना प्रमुख के रूप में पदभार संभाला था। इससे पहले, वह थलसेना के उप प्रमुख थे।

जिले में 42 दिन बाद कोराना का नया केस मिला

जिले में 42 दिन बाद कोराना का नया केस मिला 
भानु प्रताप उपाध्याय  
शामली। जिले में 42 दिन बाद कोराना का नया केस मिला है। 35 वर्षीय युवक के कोरोना संक्रमित मिलने पर स्वास्थ्य विभाग सतर्क हो गया। स्वास्थ्य विभाग ने कोरोना संक्रमित को होम क्वारंटीन किया है। स्वास्थ्य टीम ने उसके परिजनों और संपर्क में आने वाले लोगों के कोरोना की जांच के लिए सैंपल लिए हैं।शहर के मोहल्ला गुलशन नगर निवासी 35 वर्षीय युवक का सीएचसी पर सैंपल लिया गया था। एंटीजन जांच में युवक कोरोना पॉजिटिव मिलने पर उसका सैंपल आरटीपीसीआर जांच के लिए भेजा गया था। शनिवार को आरटीपीसीआर जांच रिपोर्ट में भी युवक कोरोना संक्रमित पाया गया। इसके बाद स्वास्थ्य विभाग ने युवक को होम क्वारंटीन कर दिया। स्वास्थ्य टीम ने उसके परिवार के सभी सदस्य और संपर्क में आने वाले लोगों सैंपल लिए हैं। जिला सर्विलांस अधिकारी डॉ. जाहिद अली त्यागी ने बताया कि कोरोना संक्रमित मिला युवक क्षय रोग से पीड़ित है। दो दिन पहले वह सीएचसी पर दवा लेने गया था। स्वास्थ्य विभाग ने यह व्यवस्था बना रखी है कि जो भी क्षय रोग की जांच या दवा लेने आएगा, उसकी कोरोना की जांच के लिए सैंपल भी लिया जाएगा। इसी व्यवस्था के तहत उसका दो दिन पहले सैंपल लिया गया था। पहले एंटीजन और फिर आरटीपीसीआर जांच में युवक कोरोना संक्रमित पाया गया। उसे होम क्वारंटीन किया गया है। उन्होंने बताया कि युवक में कोरोना का कोई लक्षण नहीं दिख रहा था।

तीसरी लहर में नौ मार्च को आया था आखिरी केस
कोरोना की तीसरी लहर में पहला केस चार दिसंबर 2021 को मिला था। इसके बाद 29 दिसंबर को कोरोना का एक और केस मिला था। जनवरी माह में कोरोना पीक पर रहा था और फरवरी में कोरोना के केस कम आने शुरू हो गए थे। तीसरी लहर में कोरोना वायरस घातक रूप में नहीं था। कोरोना के मरीज तीन से पांच दिन में घर पर ही ठीक हो गए थे। किसी भी कोरोना संक्रमित अस्पताल में भर्ती नहीं होना पड़ा था। नौ मार्च को आखिरी केस आया था और 19 मार्च को कोरोना को कोई सक्रिय मरीज न होने के कारण जिला कोरोना मुक्त हो गया था।

यमुना पर 2 लेन का पुल 8 माह में तैयार होगा

यमुना पर 2 लेन का पुल 8 माह में तैयार होगा
भानु प्रताप उपाध्याय   
शामली। मेरठ-करनाल हाईवे पर बिड़ौली के पास बह रही यमुना नदी पर दो लेन का पुल अगले आठ माह में बनकर तैयार होगा। अगले साल 2023 की शुरूआत में यमुना नदी का दो लेन का 498 मीटर लंबाई के पुल आम नागरिकों के लिए चालू कर दिया जाएगा। हाईवे की निर्माण एजेंसी ने यमुना में नदी में पिलर पर गर्डर रखने शुरू कर दिए हैं। इसके बाद लिंटर डाला जाएगा।मेरठ-करनाल मार्ग पहले सात मीटर चौड़ा था। बिड़ौली में यमुना नदी पर दो लेन का पुल पहले से बना है। वर्ष 2015 में इसे स्टेट हाईवे घोषित कर चौड़ीकरण की शुरूआत हुई थी। वर्ष 2017 तक आते-आते हरियाणा के करनाल जिले की सीमा से मेरठ तक इसका निर्माण पूरा कर दिया गया था। भाजपा सरकार बनने के बाद इस हाईवे को एनएचएआई को हस्तांरित कर दिया गया। एनएचएआई ने इसके चौड़ीकरण की कार्ययोजना बनाकर केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्रालय को भेजी थी। परियोजना स्वीकृत होने के बाद करनाल से मेरठ तक हाईवे को चौड़ा करने और हाईवे पर पुलों व फ्लाईओवर का निर्माण कार्य चल रहा है। करनाल बाईपास से लेकर बिडौली में यमुना नदी तक 85 प्रतिशत तक कार्य पूरा हो चुका है। निर्माण कंपनी के उप महाप्रबंधक सुनील कुमार सिंह ने बताया कि 498 मीटर लंबाई वाले यमुना पुल पर 52 गर्डर में से 44 रखे जा चुके हैं। आठ गर्डर और रखने के बाद पुल पर लिंटर डालकर चौड़ा करने कार्य होगा। उन्होंने बताया कि पुल तैयार होने पर वाहनों के आवागमन में सुविधा होगी। वाहनों को पुल जाम की स्थिति से छुटकारा मिलेगा। अगले साल की शुरूआत में नए पुल को तैयार करके चालू कर दिया जाएगा।बिड़ौली में यमुना नदी का पुल हरियाणा, पंजाब और पउप्र के शामली, सहारनपुर समेत कई जिलों को जोड़ता है। हरियाणा और पंजाब पाकिस्तान के लाहौर दूसरी ओर बंगाल जाने के लिए मेरठ-करनाल हाईवे का महत्व है। बिड़ौली में यमुना नदी पर 40 साल पहले हरियाणा और यूपी सरकार की संयुक्त धनराशि से दो लेन का पुल तैयार किया था। पुल पर आए दिन जाम लगा लगा रहता था। लेकिन अब बिड़ौली में एनएचएआई की ओर से दूसरा पुल बनने जाने के बाद आवागमन को सुविधा मिलेगी।

अवैध कब्जा, जांच पर लेखपाल के साथ मारपीट

अवैध कब्जा, जांच पर लेखपाल के साथ मारपीट
भानु प्रताप उपाध्याय   
शामली। कैराना में बंजर भूमि पर अवैध कब्जा करने की शिकायत पर जांच करने पहुंचे लेखपाल के साथ कब्जाधारियों ने मारपीट कर दी। आरोपितों ने सरकारी कागजात भी फाड़ दिए। मामले में आठ लोगों के विरूद्ध मुकदमा दर्ज कराया गया है। तहसील मुख्यालय पर कार्यरत लेखपाल अजीत पंवार ने कोतवाली में मुकदमा दर्ज कराया है। लेखपाल के मुताबिक, गैर अहतमाल बसेड़ा गांव में बंजर की भूमि पर अवैध कब्जा करने की शिकायत हुई थी, जिस पर वह 27 अप्रैल को मौके पर जांच करने पहुंचे थे।आरोप है कि मौके पर कब्जाधारियों ने उनके साथ अभद्रता और मारपीट की। इसके अलावा सरकारी कागजात फाड़ दिए। उन्हें मौके पर सरकारी कार्य नहीं करने दिया गया। मामले में कुर्बान, नाजिम, जिंदा, इमरान, अरशद, नवाज, मेहरदीन व जाकिर निवासीगण गांव राणामाजरा थाना सनौली जनपद पानीपत हरियाणा को नामजद कराया गया है। पुलिस ने संबंधित धारओं में मामला दर्ज करने के पश्चात अग्रिम कार्रवाई शुरू कर दी है। — डेढ़ माह पूर्व भी लेखपाल पहूंचे थे पैमाइश पर गांव बसेड़ा निवासी किसान अलिनवाज की शिकायत पर पैमाइश के लिए लेखपाल अजित पंवार पहुंचे थे। उन्होंने वहां 683 खसरा नम्बर में पांच बीघे बंजर भूमि की पैमाइस के लिए किसानों को खाली करने के लिए अवगत कराया था। उस दौरान उस पर पानी भरने के कारण टीम वापस लौट आई थी।
यमुना के दूसरी ओर स्थित भूमि पर हुई मारपीट किसान की ओर से की शिकायत पर गई। जिसमें यमुना पार कर गई लेखपाल की टीम के साथ बसेड़ा गांव के रकबे पर लेखपाल अजित पंवार व उनके सहयोगी के साथ गाली-गलौज करने लगे। लेखपाल ने समझाने का प्रयास किया, लेकिन वह नहीं माने। वहां मौजूद पांच लोगों ने उनके साथ हाथापाई शुरू कर सरकारी कागजात फाड़ दिए गए। लेखपाल ने कोतवाली में तैनात हल्का इंचार्ज को सूचना दी। इस दौरान और अन्य तीस चालीस लोग वहां पहुंचने लगे। लेखपाल किसी तरह अपनी जान बचाकर भागे।आरोप है कि मौके पर कब्जाधारियों ने उनके साथ अभद्रता और मारपीट की। इसके अलावा सरकारी कागजात फाड़ दिए। उन्हें मौके पर सरकारी कार्य नहीं करने दिया गया। मामले में कुर्बान, नाजिम, जिंदा, इमरान, अरशद, नवाज, मेहरदीन व जाकिर निवासीगण गांव राणामाजरा थाना सनौली जनपद पानीपत हरियाणा को नामजद कराया गया है। पुलिस ने संबंधित धारओं में मामला दर्ज करने के पश्चात अग्रिम कार्रवाई शुरू कर दी है। — डेढ़ माह पूर्व भी लेखपाल पहूंचे थे पैमाइश पर गांव बसेड़ा निवासी किसान अलिनवाज की शिकायत पर पैमाइश के लिए लेखपाल अजित पंवार पहुंचे थे। उन्होंने वहां 683 खसरा नम्बर में पांच बीघे बंजर भूमि की पैमाइस के लिए किसानों को खाली करने के लिए अवगत कराया था। उस दौरान उस पर पानी भरने के कारण टीम वापस लौट आई थी।यमुना के दूसरी ओर स्थित भूमि पर हुई मारपीट किसान की ओर से की शिकायत पर गई। जिसमें यमुना पार कर गई लेखपाल की टीम के साथ बसेड़ा गांव के रकबे पर लेखपाल अजित पंवार व उनके सहयोगी के साथ गाली-गलौज करने लगे। लेखपाल ने समझाने का प्रयास किया, लेकिन वह नहीं माने। वहां मौजूद पांच लोगों ने उनके साथ हाथापाई शुरू कर सरकारी कागजात फाड़ दिए गए। लेखपाल ने कोतवाली में तैनात हल्का इंचार्ज को सूचना दी। इस दौरान और अन्य तीस चालीस लोग वहां पहुंचने लगे। लेखपाल किसी तरह अपनी जान बचाकर भागे।

बिना अनुमति के सड़क पर धार्मिक कार्यक्रम नहीं

बिना अनुमति के सड़क पर धार्मिक कार्यक्रम नहीं

सत्येंद्र पंवार 

मेरठ। पुलिस और प्रशासन ने इसका पालन कराने के लिए धर्म गुरुओं से भी बात की है। स्पष्ट कर दिया कि बिना अनुमति के सड़क पर कोई भी धार्मिक कार्यक्रम नहीं हो सकेगा। सभी थाना प्रभारियों को आदेश दिया है कि इसका सख्ती से पालन किया जा सके।

ईदगाह पर अतिरिक्त सुरक्षा...
शासन का आदेश मिलने के बाद सभी कप्तानों ने इसका पालन कराने का निर्णय लिया है। दोनों संप्रदाय से जुड़े मुख्य लोगों को पुलिस ने बताया है कि बिना अनुमति के सार्वजनिक स्थल या सड़कों पर धार्मिक आयोजन नहीं कराया जाएगा। हाल में आने वाली ईद पर ईदगाह में सड़क पर नमाज अदा नहीं करने दी जाएगी। इसके लिए ईदगाह पर अतिरिक्त सुरक्षा बढ़ा दी गई है। छह थाना प्रभारी, तीन सीओ तथा एसपी सिटी की मौजूदगी रहेगी। इसके अलावा आरएएफ की एक कंपनी को भी लगा दिया गया है। नमाज अदा करने की वीडियो भी बनाई जाएगी, ताकि सड़क पर नमाज अदाकर माहौल बिगाडऩे वालों पर कार्रवाई हो सकें।

इनका कहना है
आमजन की परेशानी को देखते हुए सड़क या सार्वजनिक स्थल पर बिना अनुमति के कोई भी धार्मिक आयोजन नहीं कराया जाएगा। सभी संप्रदाय के लिए यह व्यवस्था लागू की गई है। धर्म गुरु भी अपने संप्रदाय के लोगों से इसके लिए अपील कर रहे हैं।

मेरठ पुलिस ने चांद रात और ईद-उल-फितर पर सुरक्षा का प्लान जारी कर दिया है। बाइक स्टंट करने वालों पर खासतौर पर नजर रहेगी। ड्रोन से निगरानी की जाएगी। स्टंट करने वालों को रोकने के लिए शहर में 39 बैरियर लगाए जाएंगे। एसएसपी प्रभाकर चौधरी ने बताया कि बाइक स्टंट करने वालों पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी। शहरभर में निगरानी के लिए चार स्थानों पर ड्रोन उड़ाया जाएगा। सुरक्षा के मद्देनजर जनपद को 14 जोन और 31 सेक्टरों में बांटा गया है। प्रत्येक सेक्टर में थाना प्रभारी और जोन पर सीओ को जिम्मेदारी दी गई है। संवेदनशील क्षेत्रों में आरएएफ की दो कंपनी लगा दी गई हैं। इसके अलावा एसपी क्राइम और एसपी यातायात भी पुलिस बल के साथ गतिशील रहेंगे।

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण     

1. अंक-205, (वर्ष-05)
2. सोमवार, मई 2, 2022
3. शक-1984, वैशाख, शुक्ल-पक्ष, तिथि-दूज, विक्रमी सवंत-2078‌‌। 
4. सूर्योदय प्रातः 07:04, सूर्यास्त: 06:24।
5. न्‍यूनतम तापमान- 28 डी.सै., अधिकतम-41+ डी सै.। उत्तर भारत में बरसात की संभावना।
6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है।
7.स्वामी, मुद्रक, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम व शिवांशु, (विशेष संपादक) श्रीराम व सरस्वती (सहायक संपादक) के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी।
8. संपर्क व व्यवसायिक कार्यालय- चैंबर नं. 27, प्रथम तल, रामेश्वर पार्क, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102।
9. पंजीकृत कार्यालयः 263, सरस्वती विहार लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102
http://www.universalexpress.page/
www.universalexpress.in
email:universalexpress.editor@gmail.com
संपर्क सूत्र :- +919350302745 
           (सर्वाधिकार सुरक्षित)

'जिला स्वच्छ भारत मिशन' की बैठक संपन्न

'जिला स्वच्छ भारत मिशन' की बैठक संपन्न    सुशील केसरवानी         कौशाम्बी। मुख्य विकास अधिकारी शशिकान्त त्रिपाठी की अध्यक्षता में उद...