शनिवार, 18 अप्रैल 2020

संतकबीर नगर प्रशासन का 6.94 लाख

कलेक्ट्रेट परिवार ने दिया 6 लाख 94 हजार 911 रूपया


रिपोर्ट-बिट्ठल दास


 डीएम-एडीएम ने दिया दो दिन का वेतन।


संतकबीरनगर। जिलाधिकारी रवीश गुप्ता पिछले एक सप्ताह से इस विषय पर प्रयत्नशील रहे कि कोरोना वायरस महामारी के बचाव हेतु शासन को कलेक्ट्रेट परिवार अपने वेतन से धनराशि सहयोग के रूप में प्रदान करें। जिलाधिकारी रवीश गुप्ता ने इसके लिए अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व संजय कुमार पाण्डेय को निर्देश दिया था। सम्बन्धित लिपिक द्वारा पूरी सूची तैयार कर शनिवार को शासन के मुख्यमंत्री कोविड सहायता कोष में 6 लाख 94 हजार 911 रूपया दिया। इस सम्बन्ध में अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व संजय कुमार पाण्डेय ने बताया कि  कोरोना वायरस जैसी महामारी से निपटने हेतु जिला प्रशासन संतकबीरनगर सतत् प्रयत्नशील है, इसी क्रम में कलेक्ट्रेट के अधिकारियों/कर्मचारियें द्वारा कुल 6 लाख 94 हजार 911 रूपया मुख्यमंत्री कोविड सहायता कोष में अपने वेतन से दिया है, जिसमें जिलाधिकारी एवं अपर जिलाधिकारी 02 दिन का व अन्य समस्त अधिकारियों (उप जिलाधिकारी/तहसीलदार) व कर्मचारियों द्वारा 01 दिन का वेतन सहायतार्थ दिया गया। 


तत्काल प्रभाव से सचिव किया निलंबित

अकाशुं उपाध्याय


अनूपपुर। निर्धारित दर से अधिक में मास्क और ब्लीचिंग पाउडर खरीदी में अनियमितता पाये जाने पर जनपद पंचायत कोतमा के ग्राम पंचायत गोड़ारू प्रभारी सचिव बृजेश तिवारी को शनिवार को जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी सरोधन सिंह ने तत्काल प्रभाव से निलम्बित करते हुए कार्यालय जनपद पंचायत कोतमा मुख्यालय में उपस्थिति देने के निर्देश दिये है। निलंबन अवधि में नियमानुसार जीवन निर्वाह भत्ता देय होगा।


अनुविभागीय अधिकारी कोतमा अमन मिश्रा ने गतदिनों ग्राम पंचायत गोड़ारू का औचक निरीक्षण किया जहां ग्राम पंचायत प्रभारी सचिव बृजेश तिवारी द्वारा आजीविका मिशन के समूह से ग्राम पंचायत में वितरण के लिए मास्क खरीद किया जो निर्धारित दर रू 10/ प्रति मास्क की जगह 35/- प्रति मास्क की खरीदी कुल राशि 23000 का भुगतान किया गया है। जो नियम विरूद्ध है। निजी दुकान जय माता दी ट्रेडर्स को निर्धारित दर से अधिक का भुगतान किया जाना पदीय दायित्वों के प्रति घोर लापरवाही और वित्तीय अनियमित्ता की श्रेणी में होने से दण्डनीय है। जिसपर मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत ने सचिव ग्राम पंचायत पिपरिया प्रभारी सचिव ग्राम पंचायत गोड़ारू जनपद पंचायत कोतमा को म.प्र. पंचायत सेवा (अनुशासन तथा अपील) नियम 1999 के भाग-2 नियम-4 के तहत तत्काल प्रभाव से निलम्बित कर दिया है।


2007-2009 से गंभीर मंदी की आशंका

मनोज सिंह ठाकुर


नई दिल्ली। विश्वबैंक ने कोरोना वायरस महामारी के कारण उत्पन्न आर्थिक संकट के बारे में शुक्रवार को कहा कि आकलनों से इसके 2007-09 की आर्थिक मंदी से गंभीर होने की आशंकाएं प्रतीत हो रही हैं। विश्वबैंक के अध्यक्ष डेविड मालपास ने अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) के साथ सालाना ग्रीष्मकालीन बैठक के दौरान कहा कि कोरोना वायरस के कारण सामने आये आर्थिक संकट को पूरी दुनिया में महसूस किया जा रहा है, लेकिन गरीब देशों तथा वहां के लोगों पर इसका अधिक असर देखने को मिलेगा।


उन्होंने कहा कि अंतरराष्ट्रीय विकास संघ (आईडीए) से सहायता के पात्र देशों में दुनिया की सर्वाधिक गरीब आबादी का दो-तिहाई हिस्सा रहता है। इनके ऊपर इस संकट का सर्वाधिक असर होगा। आईडीए विश्वबैंक का एक हिस्सा है और यह गरीब देशों की मदद करता है।
विश्वबैंक के अध्यक्ष ने कहा, ”कोरोना वायरस महामारी का स्वास्थ्य एवं चिकित्सा पर पडऩे वाले असर के अतिरिक्त हम वृहद वैश्विक आर्थिक मंदी का अनुमान लगा रहे हैं। उत्पादन, निवेश, रोजगार और व्यापार में गिरावट को देखते हुए हमारे आकलन से लगता है कि यह 2007-09 की आर्थिक मंदी से भयानक होगा।ÓÓ उन्होंने कहा कि हमने अभी तक 64 विकासशील देशों की मदद की है और हमें अप्रैल के अंत तक 100 देशों की मदद करने का अनुमान है। विश्वबैंक अगले 15 महीने में 160 अरब डॉलर की मदद करने में सक्षम है। इसमें आईडीए सस्ती दरों पर 50 अरब डॉलर की मदद उपलब्ध करायेगा।
मालपास ने कहा कि कोविड-19 मदद कार्यक्रम गरीब परिवारों को बचाने, कंपनियों को सुरक्षा प्रदान करने और नौकरियां बचाने के तीन सिद्धांतों पर आधारित है। उन्होंने कहा कि ऋण सुविधा गरीब देशों की मदद करने का सबसे प्रभावी तरीका है। इससे पहले आईएमएफ भी यह आशंका व्यक्त कर चुका है कि कोरोना वायरस महामारी के कारण जो आर्थिक संकट उत्पन्न हो रहा है, यह 1930 के दशक की महान आर्थिक मंदी के बाद का सबसे गंभीर वैश्विक आर्थिक संकट हो सकता है।


पलटवार, ध्यान भटकाने की कोशिश

बीजिंग। चीन ने कोरोना वायरस से जुड़े तथ्यों को छिपाने की बात से शुक्रवार को इनकार किया। साथ ही आरोप लगाया कि अमेरिका यह कहकर जनता का ध्यान भटकाने की कोशिश कर रहा है कि कोरोना वायरस वुहान स्थित एक विषाणु विज्ञान प्रयोगशाला से उत्पन्न हुआ। चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियान की टिप्पणी ऐसे समय आई है, जब चीन ने कोरोना वायरस के केंद्र वुहान में महामारी से मरने वालों की संख्या में संशोधन के बाद देश में मृतक संख्या 4,632 बताई है। लिजियान ने कहा, ‘मैं जोर देकर कहना चाहता हूं कि संक्रामक रोग के विवरण की समीक्षा अंतरराष्ट्रीय स्तर पर स्वीकृत एक परंपरा है।’ उन्होंने कहा कि महामारी फैलने के शुरुआती चरण में कुछ रिपोर्ट देरी से मिलीं, कुछ में भूल हुई और कुछ गलत सूचना मिली। लेकिन कभी भी कोई बात छिपाई नहीं गई और न ही हम किसी बात को कभी छिपाने की अनुमति देंगे।


बता दें कि अमेरिकी विदेश मंत्री ने अपने बयान में कहा था कि अमेरिका इस बात की जांच करेगा कि क्या कोरोना वायरस वुहान विषाणु विज्ञान संस्थान से उत्पन्न हुआ।


अफ्रीकी देशों में संक्रमण 19334 के पार

जोहानिसबर्ग। दक्षिण अफ्रीका में कोरोना वायरस महामारी के कारण 1,000 लोगों की मौत हो चुकी है। आधिकारिक आंकड़ों के आधार पर एएफपी की गणना के अनुसार, अफ्रीका में कोरोना वायरस से अल्जीरिया देश में सर्वाधिक 364 लोगों की मौत हुई है। इसके बाद मिस्र में 205, मोरक्को में 135 और दक्षिण अफ्रीका में 50 लोग इस संक्रमण से मारे गए हैं।


आंकड़ों के अनुसार, चीन में पिछले साल दिसंबर में यह संक्रमण फैलने के बाद से अफ्रीकी देशों में संक्रमण के कुल 19,334 मामले सामने आए हैं। आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार अन्य क्षेत्रों की तुलना में अफ्रीका इस संक्रमण से कम प्रभावित हुआ है, लेकिन कई देशों में सीमित जांच के कारण अफ्रीकी अधिकारियों को सटीक तस्वीर नहीं मिल पा रही है। दुनिया भर में इस वायरस से 1,50,000 लोगों की मौत हो चुकी है और 22 लाख से अधिक लोग इससे संक्रमित हैं।


दिल्ली को 42000 कोरोना टेस्ट किट

नई दिल्ली। दिल्ली सरकार को 42 हजार नई कोरोना टेस्ट किट मिल गई हैं। कोरोना टेस्ट किट मिलने के बाद अब दिल्ली सरकार रविवार से कोरोना वायरस का रैपिड टेस्ट शुरू करेगी। यह रैपिड टेस्ट दिल्ली के उन इलाकों में किए जाएंगे, जहां अभी तक कोरोना रोगी पाए गए हैं। दिल्ली सरकार ने ऐसे स्थानों को हॉटस्पॉट में तब्दील कर उन्हें पूरी तरह से सील कर दिया है। दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने शनिवार को कहा, हमें 42,000 रैपिड टेस्ट किट प्राप्त हुई हैं। टेस्ट किट मिलने के बाद अब हम तेजी से कोरोना वायरस के संदिग्ध लोगों की जांच कर सकेंगे।


गौरतलब है कि दिल्ली सरकार ने बड़ी संख्या में कोरोना टेस्ट किट का आर्डर दिया था। सरकार का मानना है कि जल्दी से टेस्ट किए जाने से कोरोना संक्रमित लोगों का तेजी से पता लगेगा, जिससे उनका उपचार भी जल्दी होगा और उनसे अन्य लोगों के संक्रमित होने की संभावना कम हो जाएगी।कोरोना वायरस संक्रमण के बारे में जानकारी देते हुए दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री ने कहा, दिल्ली में बीते 24 घंटे के दौरान कोरोनावायरस के 67 नए रोगियों का पता चला है। वहीं अब तक तक 42 व्यक्तियों की कोरोना वायरस संक्रमण से मौत हो चुकी है। दिल्ली में कुल 1707 कोरोना के मामले अभी तक सामने आए हैं। इनमें से 911 रोगी दिल्ली के बड़े अस्पतालों में भर्ती हैं।


उन्होंने बताया, इनमें 83 लोग विदेशों से अपने साथ संक्रमण लेकर आए थे। वहीं 353 लोगों को यह बीमारी संक्रमितों के संपर्क में आने की वजह से हुई है। 191 मरीज ऐसे हैं जिन्हें ये नहीं पता है कि उन्हें संक्रमण कहां से हुआ। राहत की बात यह है कि शुक्रवार को एक साथ 22 व्यक्तियों को स्वस्थ होने पर अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है। दिल्ली सरकार ने गर्मी शुरू होने के बाद शहर के जिन स्थानों पर पेयजल की समस्या उत्पन्न हुई है, उन इलाकों में दिल्ली जल बोर्ड के टैंकरों के जरिए पानी पहुंचाने का काम भी किया जा रहा है।


 


यूपीः 48 जिलों में वायरस की मौजूदगी

लखनऊ। यूपी में तबलीगी जमात और उनके संपर्क में आए कोरोना पॉजिटिव की संख्या 471। यूपी में अब तक आगरा में 10, गाजियाबाद में 7, नोएडा में 25, लखनऊ में 6 लखीमपुर खीरी में 1, बरेली 2, कानपुर में 1, मुरादाबाद 1, शामली में 1, पीलीभीत में 2, मेरठ में 14 हाथरस 4 समेत 74 मरीज स्वस्थ होकर डिस्चार्ज। अब तक आगरा 167, लखनऊ 100, गाजियाबाद 28, नोएडा 92, लखीमपुर खीरी 4, कानपुर 22, पीलीभीत 2, मुरादाबाद 21, वाराणसी 9, शामली 22, जौनपुर 5, बागपत 15, मेरठ 69, बरेली 6, बुलंदशहर 12, बस्ती 16, हापुड़ 15, गाजीपुर 5, आजमगढ़ 6, फिरोजाबाद 27, हरदोई 2, प्रतापगढ़ 6, सहारनपुर 53, शाहजहांपुर 1, बांदा 2, महाराजगंज 6, हाथरस 4, मिर्जापुर 2, रायबरेली 2, औरैया 5, बाराबंकी 1, कौशांबी 2,  बिजनौर 13, सीतापुर 14, प्रयागराज 1, मथुरा 4, बदायूं 4, रामपुर में 6, मुजफ्फरनगर 5,  अमरोहा 10, भदोही में 1, इटावा 1, कासगंज 3 संभल 6, उन्नाव 1, कन्नौज 4, संत कबीर नगर 1, मैनपुरी 2 मरीज अब तक कोरोना पॉजिटिव मिले हैै।


यूपी में 48 जिलों में कोरोना संक्रमित मरीज मिले।


यूपी में अब तक 8738 मरीजों में कोरोना के लक्षण मिले।


अब उत्तर प्रदेश की 14 लैब में हो रही कोरोना सैंपल की जांच


10714 लोगों को संस्थागत क्वॉरेंटाइन में रखा गया।


यूपी में अब तक कोरोना से 13 मरीजों की मौत।


यूपी में अब तक कोरोना से बस्ती में 1, मेरठ में 1, वाराणसी में 1, बुलंदशहर में 1, मुरादाबाद में 2, आगरा में 5, कानपुर 1, लखनऊ 1 मरीजों की मौत।


डीएम के निर्देश पर 188 की कार्रवाई

अतुल त्यागी/रिंकू सैनी
रेट लिस्ट न लगाना एवं सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान न रखने पर धारा 188 के तहत एफआईआर की गई दर्ज।


हापुड। जिलाधिकारी अदिति सिंह द्वारा दिए गए निर्देशों के अनुपालन में कार्य करते हुए खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन विभाग की टीम द्वारा आज हापुड़ मंडी के सामने मैसर्स जयप्रकाश किराना स्टोर का निरीक्षण किया गया।  निरीक्षण के दौरान खादय सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन की टीम ने नवीन मंडी के सामने मैसर्स जयप्रकाश किराना स्टोर पर  सोशल डिस्टेंसिंग का पालन न करने एवं निर्धारित मूल्य से अधिक मूल्य पर खाद्य सामग्री विक्रय करने एवं रेट लिस्ट न लगाना आदि सरकारी आदेशों की अवहेलना करने के कारण उपरोक्त उक्त प्रतिष्ठान पर आपदा काल में आईपीसी की धारा 188 के तहत थाना हापुड़ में एफ आई आर दर्ज कराई गई। यह जानकारी जिला अभिहित अधिकारी हापुड द्वारा दी गई है।


दुनिया की दूसरी सबसे प्रीमेच्योर बेबी

नॉर्थ कैरोलिना। अमेरिका के नॉर्थ कैरोलिना राज्य में रहने वाली एक मां ने अपनी जुड़वा बच्चियों को दुनिया में लाने की असाधारण फोटो साझा की हैं, जो दुनिया की दूसरी सबसे प्रीमेच्योर बेबी हैं। उसकी बेटियों का जन्म गर्भावस्था के 5वें महीने में हुआ। 


33 वर्षीय ट्रेसी हर्नांडेज पिछले साल 8 दिसंबर को क्रिसमस की खरीदारी करने निकली थी, तभी उसे घबराहट हुई। कुछ घंटों बाद जब आंखें खुलीं तो खुद को अस्पताल में पाया और अपनी बगल में नवजात जुड़वा बेटी-माकेंजी और मकायला को देखा। डॉक्टरों ने उनके 9 अप्रैल, 2020 में पैदा होने की संभावना जताई थी। समय पूर्व बच्चियों के जन्म को देखते हुए डॉक्टरों ने महिला और उसके मंगेतर एंथनी पोप को उनके न बचने की बात कही। जन्म के वक्त मकायला का वजन एक पाउंड जबकि माकेंजी का वजन एक पाउंड से भी थोड़ा कम था। बच्चियां जन्म के बाद से अस्पताल में विशेष देखरेख इकाई में भर्ती हैं और उनकी एक सर्जरी भी हो चुकी है। बच्चियों को अगले महीने अस्पताल से छुट्टी मिलने की संभावना है। पूर्व में, कीली और कैंब्री नामक दो जुड़वा बच्चे गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड में दुनिया के सबसे प्रीमेच्योर बेबी के तौर पर अपना नाम दर्ज करा चुके हैं। उनका जन्म पांचवें महीने से भी पहले हो गया था।


पाकः 7400 से अधिक मामले आए

इस्लामाबाद। कोरोना वायरस के उपद्रव से देश और दुनिया बुरी तरह त्रस्त हैं। ऐसे में भारत का पड़ोसी देश पाकिस्तान भी इससे अछूता नहीं है। पाकिस्तान के डॉक्टरों के पास पीपीई, मास्क और दस्ताने की सुविधा न होने का बावजूद यहां कोरोना के मामले जनसंख्या के अनुसार कम ही हैं। यहां अभी तक कुल 7400 से अधिक मामले सामने आए हैं और केवल 143 लोगों की मौत हुई है। लेकिन पाकिस्तान द्वारा जारी इन आंकड़ों पर तब सवाल उठने लगे हैं जब खबर आई कि कराची शहर के कब्रिस्तानों में बीते 49 दिनों में 3265 शवों को दफनाया गया है। ये अपने आप में चौंकाने वाला है।


हाल ही में आई द ट्रिब्यून की खबर के मुताबिक कराची प्रशासन ने ही ये आंकड़े जारी किए हैं। वहीं इससे पहले पाकिस्तानी मीडिया में ऐसी बरें आयीं थीं कि कराची के अस्पतालों में कोरोना से बड़ी संख्या में मौतें हो रहीं हैं लेकिन प्रशासन इसे आम लोगों से छुपाने में लगा हुआ है। द ट्रब्यून के अनुसार उसने हजारों लोगों को दफनाए जाने को लेकर अधिकारियों से बात करने की कोशिश की तो वे इसका जवाब नही दे पाए कि आखिर इतनी मौतें कैसे हुईं।


डिपो कर्मचारियों की विभाग द्वारा स्कैनिंग

हापुड़ डिपो के कर्मचारियों की स्वास्थ्य विभाग द्वारा की गई स्कैनिंग


अतुल त्यागी जिलाप्रभारी, मुकेश सैनी जिला प्रभारी


हापुड़। डिपो के उत्तर प्रदेश परिवहन निगम के कर्मचारियों की आज स्वास्थ विभाग के कर्मचारियों द्वारा स्कैनिंग की गई। इस अवसर पर ए आर एम नरेश पाल ने बताया कि प्रतिदिन रोडवेज के 30% कर्मचारी अपनी ड्यूटी पर आते हैं जिनकी स्कैनिंग की जाती है आज तकरीबन 50 कर्मचारियों की स्कैनिंग की गई जिसमें सभी सही पाए गए परिवहन विभाग लगातार अपने कर्मचारियों की स्वास्थ्य जांच करा रहा है तथा कर्मचारियों को यह भी निर्देशित किया जाता है कि वह लोग दूरी बनाकर रखें और साफ-सफाई पर विशेष ध्यान दें उन्होंने बताया कि कोटा से छात्रों को लाने के लिए आगरा, अलीगढ़ मंडल की बसों को लगाया गया है हापुड़ जनपद को इस बारे में कोई सूचना नहीं दी गई है। इस अवसर पर नीरज कुमार, सुनील दुबे, कैलाश आदि उपस्थित रहे।


खदान सामग्री में कोटेदारों की धांधली

प्रधानमंत्री के फ्री वितरित खाद्यान्न सामग्री में कोटेदार के द्वारा किया जा रहा धांधली


प्रयागराज। ब्लॉक होलागढ़ तहसील सोरांव के ग्रामसभा सराय चंद भान के कोटेदार गिरिजा देवी जो कि प्रधानमंत्री के द्वारा निर्धारित नि:शुल्क खाद्यान्न सामग्री वितरित के तहत प्रति यूनिट 5 किलो की घोषणा होने के बावजूद कोटेदार ने प्रति राशन कार्ड के पीछे 01 किलोग्राम की कटौती कर रहा है I  कोटेदार द्वारा पिछले 5 महीने से यही प्रक्रिया चलाई जा रही थी राशन कार्ड पर पूरा राशन लिखा जा रहा था आज जब हम ग्राम वासियों लोगों के द्वारा आपत्ति करने पर कोटेदार मारपीट पर उतर आया जिसकी वीडियो रिकॉर्डिंग भी की गई  है कोटेदार के साथ खड़े कुछ अराजक तत्वों ने भी असभ्य भाषा का प्रयोग किया साथ ग्राम निवासियों का कहना है कि सप्लाई स्पेक्टर भी इसमें मिले हुए।


पांडिचेरी में संक्रमितो की संख्या-8

पांडिचेरी। 18 अप्रैल (भाषा) केन्द्र शासित क्षेत्र पुडुचेरी के एक अस्पताल में भर्ती अरियनकुप्पम गांव के एक व्यक्ति को कोविड-19 के उपचार के बाद शनिवार को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। इसी के साथ यहां उपचार के बाद ठीक हुए लोगों की संख्या बढ़ कर तीन हो गई है।


अस्पताल से जिस व्यक्ति (49) को छुट्टी मिली है वह दिल्ली के निजामुद्दीन मरकज में तबलीगी जमात के कार्यक्रम में हिस्सा ले कर लौटा था और उसे 31मार्च को इंदिरा गांधी सरकारी मेडिकल कॉलेज एवं शोध संस्थान (आईजीजीएमसीआरआई) में भर्ती कराया गया था। स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण सेवाओं के निदेशक एस मोहन कुमार ने ‘पीटीआई-भाषा’ से कहा कि इस व्यक्ति को छुट्टी मिलने के साथ ही उपचार के बाद छुट्टी मिलने वाले लोगों की संख्या बढ़कर तीन हो गई है। यहां अस्पताल में अभी कोविड- 19के चार मरीजों का उपचार चल रहा है। पुडुचेरी में कोरोना वायरस संक्रमण के कुल आठ मामले हैं। तीन लोगों को उपचार के बाद छुट्टी दे दी गई और माहे के रहने वाले एक व्यक्ति की केरल के एक अस्पताल में कुछ दिन पहले मौत हो गई।


शोभना नीरज


ग्राम पंचायत में कर्फ्यू, कोई ढील नहीं

ऊना जिला में एक और कोरोना संक्रमित, राजपुर जसवां पंचायत सील
ऊना/अमित शर्मा। जिला ऊना का एक और व्यक्ति कोरोना संक्रमित पाया गया है। आज टांडा में जिला ऊना के 79 सैंपल की जांच की गई, जिनमें से 73 नेगेटिव तथा एक पॉजिटिव पाया गया है। यह जानकारी देते हुए उपायुक्त ऊना संदीप कुमार ने कहा कि पांच सैंपल फेल होने की वजह से इनके सैंपल दोबारा लिए जाएंगे। इस तरह से जिला ऊना में कुल कोरोना संक्रमितों की संख्या 16 पहुंच गई है। उन्होंने कहा कि आज पॉजीटिव पाए गए व्यक्ति की कॉन्टेक्ट हिस्ट्री तलाशी जाएगी।
डीसी ने कहा कि अब अंब उपमंडल की ग्राम पंचायत राजपुर जसवां सील कर दी गई है। आगामी आदेशों तक पंचायत में पूर्ण कर्फ्यू रहेगा और कोई ढील नहीं दी जाएगी। उन्होंने कहा कि राजपुर जसवां में अब राशन सहित अन्य आवश्यक वस्तुओं की डोर-टू-डोर सप्लाई की जाएगी।


एसीपी सहित पंजाब में 15 की मौत

कोरोना वायरस: पंजाब में 15वीं मौत,एसीपी अनिल कोहली की मौत


लुधियाना/अमित शर्मा। बड़ी खबर पंजाब से आ रही है। राज्य में कोरोना से 15वीं मौत हो गई। लुधियाना में कोरोना पॉजिटिव पाए गए एसीपी अनिल कोहली की मौत हो गई है। एसीपी का एसपीएस अस्पताल में इलाज चल रहा था। सिविल सर्जन ने उनकी मौत की पुष्टि कर दी है। वे कुछ दिनों से वेंटिलेटर पर थे और हालत नाजुक थी। 52 वर्षीय एसीपी का पहला टेस्ट नेगेटिव आया था। इसके बाद हालत ठीक न होने पर उनका सैंपल दोबारा से जांच के लिए पटियाला के राजिंदरा अस्पताल भेजा गया था। जिसकी रिपोर्ट रविवार को पॉजिटिव आई थी। एसीपी को 8 अप्रैल को अस्पताल में भर्ती करवाया गया था। इनकी छाती का एक्सरे हुआ तो इंफेक्शन पाई गई थी,  जिसके बाद उनके सैंपल जांच के लिए भेजे गए। एसीपी मूल रूप से खन्ना के रहने वाले थे। लुधियाना में पोस्टिंग के बाद करीब पांच महीने से वह अपनी पत्नी और छोटे बेटे के साथ वहां ही शिफ्ट कर गए थे। एसीपी का बड़ा बेटा कनाडा में रहता है।


हिमाचल में संक्रमितो की संख्या- 38

ब्रेकिंग: हमीरपुर में आये कोरोना के दो मरीज, एक्टिव केसेस 21 और 38 पहुंची कुल संक्रमितों की संख्या



शिमला/ हमीरपुर/अमित शर्मा। प्रदेश के लिए शुक्रवार का दिन बेहद चिंताजनक रहा है। यहां आज एक साथ तीन पॉजिटिव मामले सामने आने से हड़कंप मच गया है। देर रात हमीरपुर जिले से पहली बार दो मरीज कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं।


इससे पहले आज शाम को चम्बा से भी एक मामला।पॉजिटिव आ चुका है। आज शुक्रवार को हमीरपुर जिले से 12 सैंपल जांच के लिए टांडा भेजे गए थे, जिनमें से दो की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। महिला और पुरुष की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। डीसी हमीरपुर हरिकेश मीणा ने इसकी पुष्टि है। उन्होंने आदर्श हिमाचल को फ़ोन पर बताया कि अभिन्डो मामलों की पुष्टि हुई है लेकिन इन दोनों लोगों की सारी जानकारी एकत्र की जा रही है।  मरीज को घर-घर तलाशने वाले एक्टिव केस फाइंडिंग कैंपेन के तहत हमीरपुर जिले मे फ्लू पीड़ित दो लोगों का रैंडम सैम्पल लिया गया था जो कि कोरोना पॉजिटिव निकल आये हैं। प्रशासन ने तुरंत हरकत में आते हुए इन् मारिजोंमके संपर्क में आने वालो की मैपिंग शुरू कर दी है। अब खांसी-बुखार वाले लोगों  चिह्नित कर सबके सैम्पल लिए जाएंगे।


एससी का निर्णय का स्वागतः सीएम

मुख्यमंत्री ने सर्वोच्च न्यायालय के निर्णय का स्वागत किया


शिमला/अमित शर्मा। मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने पीटीए, पैट और पैरा अध्यापकों के मामले में भारत के सर्वोच्च न्यायालय के निर्णय का स्वागत किया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्तमान प्रदेश सरकार ने इन अध्यापकों का हमेशा से ध्यान रखा है और पिछले वर्ष से उन्हें नियमित अध्यापकों की तर्ज पर वेतनमान दिया गया, लेकिन इनका मामला सर्वोच्च न्यायालय के पास लंबित होने के कारण इन्हें नियमित नहीं किया जा सका। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार अब इस निर्णय के आने के बाद इन अध्यापकों के मामले पर आगामी कार्यवाही करेगी।


मुख्यमंत्री ने कहा कि सर्वोच्च न्यायालय के इस निर्णय से प्रदेश के 12,472 अध्यापक लाभान्वित होंगे, जिनमें विभिन्न श्रेणियों के 2172 पैरा अध्यापक, 6799 पीटीए शिक्षक और 3501 पैट अध्यापक शामिल हैं। जय राम ठाकुर ने कहा कि प्रदेश सरकार अपने कर्मचारियों के कल्याण के लिए प्रतिबद्ध है और वित्तीय बाधाओं के बावजूद उन्हें समय-समय पर करोड़ों रुपये के वित्तीय लाभ प्रदान किए गए हैं।


मदद के बाद पुलिस पर लगाए आरोप

अतुल त्यागी 
युवक ने आपातकालिन सुविधा ना मिलने पर पुलिसकर्मियों पर मार पीट का लगया झूठा आरोप


हापुड़। कोतवाली गढ़मुक्तेश्वर क्षेत्र के गढ़ नगर के रविदास चौक के आस पास का रहने वाला युवक विपुल पुत्र अमरसिंह ने पुलिस पर लगाया मार पीट का झूठा आरोप।


युवक ने मांगी थी 112 नम्बर पर कॉल करके पुलिस से सहायता,सहायता मिलने पर भी लगया पुलिसकर्मियों पर मारपीट का आरोप,मां की दवाई खत्म होने के बाद मांगी थी पुलिस सहायता,सूचना मिलते ही क्षेत्रीय पुलिस ने मौके पर पहुँचकर वर्तमान स्थिति को जाकर देखा,मिली जानकारी के बाद युवक की माँ ऑथोरईसट की है मरीज,परन्तु पुलिस ने हर सम्भव प्रयास करते हुए युवक को मेरठ से दवाई लाने के लिए भी कहा,आपातकालीन एम्बुलेंस के लिए भी बताया परन्तु युवक ने पुलिस की ना मानते हुऐ,पुलिसकर्मियों पर ही दवाई ना  लान देने पर मार पीट का लगया आरोप,डयूटी पर तैनात पुलिसकर्मियों ने युवक को किया हर सम्भव समझाने का प्रयास,लॉक डाउन के चलते जहां के तरफ पुलिस अपनी जान जोखिम में डाल कर सुरक्षा व्यवस्था के लिए हर समय हो रहे तैयार,तो कहीं पुलिस पर पथराव,कहीँ पुलिस पर बरस रहे लाठी डंडे,कहीं पुलिसकर्मियों पर लगाए जा रहे झूठे आरोप,आप स्वंम तस्वीरों में देख सकते है की पुलिसकर्मियों ने सूचना मिलते ही तत्काल प्रभाव से पहुचकर सहायता का किया हर सम्भव प्रयास।समाचार लिखे जाने तक पूर्ण रूप से नही मिल पाई जानकारी।


राशन की दुकान पर सैनिटाइजर प्रयोग

अतुल त्यागी 
राजेंद्र सिंह रिपोर्टर बाबू गढ़ राशन की दुकानों पर किया जा रहा सैनेटाइजर का उपयोग 


हापुड। किला कोना स्थित हापुड थोक फुटकर केन्द्रीय उपभोक्ता सहकारी भन्डार लिमिटेड किला कोना  हापुड स्थित सतीस कुमार रासन डीलर सरकारी आदेशों का पालन करा रहे है एक बिशेष बातचीत में उन्होंने बताया की हमारे यहां जो भाई बहिन रासन लेने आता है हम सबसे पहले उनके हाथो को सैनेटाइजर से साफ करबाते है साफ करवाने के बाद बायौमैट्रिक मशीन पर अंगूठा लगबाते है फिर उन्हे रासन दिया जाता है रासन की दुकान पर शौशल डिस्टेश का पालन हो रहा है कोरोना वायरस  महामारी में जो शाशन आदेश हमें प्राप्त हुआ है उसी के अनुसार रासन वितरण किया जा रहा है हमारे देश के प्रधानमँत्री जी ने जो लाँकडाउन किया है हम सबको उनके आदेश का पालन करना है और करवाना है।


जरूरतमंदों को दिया जरूरी सामान

गरीबों के घर जाकर बाट रहे खाद्य सामग्री


वाराणसी/रोहनिया। कोरोना महामारी फैलने से सरकार द्वारा महामारी से बचाव के लिए लॉकडाउन लगाया गया है। लेकिन लॉकडाउन होने की वजह से गरीब तबके के लोग जो रोजमर्रा की जिंदगी में लेबर वर्ग का कार्य करके अपने परिवार का भरण पोषण करते है जिनके पास अब खोने या पाने को कुछ नही रहा। तो वही प्रधानमंत्री के संसदीय क्षेत्र बनारस का एक युवा समाजसेवी सुरेश राठौर जो अपनी टीम के साथ निहायत गरीब लोगों को चिन्हित कर उनकी सेवा करने का बीड़ा उठा रखा है। आज शनिवार को देउरा गांव में सुरेश राठौर नेतृत्व में देउरा ग्राम पंचायत के वार्ड नं 9 से सदस्य राजकुमार पाल मिल्लू और लालमनी देवी के सहयोग द्वारा गांव की विधवा महिला,मंदिर के पुजारी और पूर्ण रूप से विकलांग व्यक्तियों में सूखा राशन लगभग 13 परिवार में वितरण किया गया। इसके अलावा सुरेश राठौर ने कहा कि आप सभी लोग अपने घर में रहकर सरकार द्वारा लिए गए महत्वपूर्ण फैसले में अपना सहयोग दें। इस कार्य मे मुस्तफा,मुकेश का पूरा सहयोग रहा।


एडीजी वाराणसी ने की कार्य समीक्षा

राकेश पाण्डेय


वाराणसी। एडीजी जोन वाराणसी ने जनपद का भ्रमण किया गया। भ्रमण के दौरान एडीजी जोन ब्रजभूषण ने जिलाधिकारी व पुलिस अधीक्षक के साथ मीटिंग की गई। और लाकडाउन का उलंघन करने वालो से सख्ती से निपटने का निर्देश दिए है। उसके बाद एडीजी द्वारा जिलाधिकारी ऑफिस में बने कोरोना कंट्रोल रूम का निरीक्षण किया गया। इस दौरान ड्यूटी में लगे कर्मचारियों से कंट्रोल रूम में आ रही लोगों की समस्याओं के बारे में जानकारी ली गई तथा उस पर की गई कार्यवाही के बारे में भी जानकारी ली गई।


एडीजी जोन ने जिले में सील किए गए क्षेत्रों तथा कोरोना हॉटस्पॉट क्षेत्रों का भी निरीक्षण किया गया। इस दौरान ड्यूटी में तैनात पुलिस कर्मचारियों से बात की गई तथा उनकी समस्याओं की जानकारी ली गई तथा सोशल डिस्टेन्सिग बनाये रखने व लाॅकडाउन का पालन कराने हेतु निर्देशित किया गया है। महोदय द्वारा पुलिस लाइन गाजीपुर का भी निरीक्षण किया गया व रिक्रुट आरक्षीयों के बैरक आदि को चेक किया गया तथा पुलिस विभाग के सभी राजपत्रित अधिकारियों के साथ मीटिंग की गई व आवश्यक दिशा निर्देश दिए गए ।


बंधक बनाकर घर में लाखों की डकैती

गृहस्वामी को बंधक बनाकर लाखों की डकैती


आधा दर्जन सशस्त्र बदमाशों ने बोला देर रात घर मे धावा


असलहे की बटों से घायलकर दिया घटना को अंजाम


एक घण्टे डकैतों ने पूरे घर मे किया तांडव


पुलिस का खेल : डकैती को चोरी की धाराओं में किया दर्ज


विवेक मिश्र


फतेहपुर। एक तरफ पूरा देश कोरोनो महामारी से जूझ रहा है सम्पूर्ण देश में लॉक डाउन है अपनी जिंदगी बचाने के लिए लोग घरों में ही कैद हैं फिर भी चोरी की घटनाओं में कोई कमी नहीं आ रही है अब तो हद हो गई जब आधा दर्जन बेखौफ़ लुटेरों ने गृहस्वामी को बंधक बनाकर उसे घायल कर दिया। फिर घर का कीमती सामान जेवर नकदी आदि लूटकर फरार हो गए।


आपको बता दें कि मलवां थाना की सौंरा चौकी क्षेत्र के आदमपुर गांव में गुरुवार शुक्रवार की रात प्रमोद तिवारी उर्फ भोला तिवारी के घर मे लुटेरों ने धावा बोला। बुजुर्ग गृहस्वामी प्रमोद तिवारी ने बताया कि वह रात को रामायण कार्यक्रम देखकर लगभग 11 बजे कमरे में सोने चले गए थे। उनकी पत्नी शांति देवी दूसरे कमरे में लेटी थीं। लगभग 12 बजे के करीब किसी ने उनकी गर्दन को दबाया तो उन्होंने जोर से उसे धक्का दिया फिर देखा कि तीन बदमाश असलहों के साथ उनके कमरे में मौजूद हैं। 


उन्होंने बताया कि उनके ही कमरे में एक नकब कटी थी जिसके काटने की आवाज उन्हें सुनाई नहीं दी थी। एक बदमाश को धक्का देने की वजह से दूसरे दो बदमाश उन्हें असलहों की बट से पीटने लगे जिससे उनकी सीने में गम्भीर चोट आई है इसके बाद असलहे के बल पर अलमारी की चाभी मांगने लगे। उन्होंने बताया कि उनका पुत्र सोनू तिवारी जयपुर राजस्थान में रहता है और यह बहू की अलमारी है वह भी जयपुर में ही है चाभी भी उसी के पास है। चाभी न होना कहने पर उन्हें बदमाशों ने पुनः पीटा। इसके बाद सरिया से अलमारी को तोड़ दिया और लॉकर तोड़कर जेवरात व नकदी निकाल ली। जिसमे बहू की लगभग 8 तोला सोने के जेवरात, दो किलो चांदी के जेवरात व बहू के सत्तर हजार रुपये, 41000 रुपये पूजन के भी अलमारी में रखे थे। तथा कमरे में ही रखे बक्से में सत्रह व छह हजार रुपया व पत्नी की चेन रखी थी


जिसे भी बदमाशों ने लूट लिया। इस पूरी घटना के दौरान बदमाशो ने कमरे को अंदर से बंद कर रखा था और गृह स्वामी को बंधक बनाए थे। आवाज लगाने पर जान से मारने की धमकी दी जा रही थी। बदमाशों ने कमरे में ही रखे दो बक्से भी बाहर खड़े दो बदमाशों को कटी नकब से दूसरी तरफ पकड़ाया जिनके हाथ गृहस्वामी को दिखाई पड़े। जिससे यह निश्चित हो गया कि बदमाशों की संख्या आधा दर्जन के करीब है। इसके बाद बदमाश दूसरे कमरों को खंगालने लगे तभी गृहस्वामी की पत्नी शांति देवी घर मे हो रही खटपट की आवाज से जग गई। वह बदमाशों को देखकर बाहर की ओर भागीं और बाउंड्री फांदकर मोहल्ले वालों को शोर मचाकर बुलाया। 


पहले बदमाशों ने उन्हें दौड़ाकर पकड़ने की कोशिश की मगर फिर नकब के रास्ते ही पीछे से भाग गए। भागते हुए बदमाश  गृहस्वामी का मोबाइल भी उठा ले गए ताकि वह पुलिस को फोन न कर पाए। उधर महिला की आवाज सुनकर पड़ोसी जागे और घर आकर लगभग 1 बजकर पन्द्रह मिनट पर 112 पुलिस को फोन किया। 112 पुलिस ने मौके पर पहुंचकर घटनास्थल का मुआयना किया फिर मलवां थाने की पुलिस को बुलवाया। रात को ही पुलिस ने लुटेरों को ढूढने की कोशिश की मगर तब तक डकैत फरार हो चुके थे। पीड़ित गृहस्वामी भोला तिवारी रात को ही थाने गए और पुलिस को तहरीर दी इस दौरान पुलिस ने भोला तिवारी को दवा भी लाकर दी। फिर पुलिस ने सीधे साधे बुजुर्ग भोला तिवारी से बोलकर तहरीर लिखवा ली और डकैती की पूरी कहानी तहरीर से हटवा दी और इसे एक सामान्य चोरी बना दी। हालांकि सीधे साधे भोला तिवारी यह नहीं जान पाए। उन्होंने बताया कि हमने चोरी की पूरी जानकारी दी है लेकिन तहरीर में बदमाशों की संख्या घटाकर दर्ज किया जाना, असलहों से लैस बदमाशो द्वारा बंधक बनाकर घायल करके डकैती की घटना को अंजाम देने को भी पचा जाना। यह खुलासे से पूर्व ही क्राइम मिनिमाईजेशन की ओर स्पष्ट इशारा कर रहा है। एसओ मलवां ने इस बाबत बताया कि आदमपुर में चोरी की घटना हुई है जिसे चोरी की धाराओं में दर्जकर चोरों की तलाश की जा रही है


आकाशीय बिजली से मंदिर को क्षति

सुनील पुरी


फतेहपुर। सुबह करीब 4:00 बजे अचानक मौसम में भारी बदलाव हुआ है। जिस कारण आसपास के क्षेत्रों में बूंदाबांदी हुई है और बिजली की कड़क भी हुई है। इसी दरमियान फतेहपुर जनपद के नरैनी गाजीपुर रोड स्थित सिद्ध पीठ श्री जागेश्वर मंदिर में आकाशी बिजली गिरी जिससे बिजली मंदिर के गुंबद में गिरी है और दूसरी ओर खिड़कियों में गिरी है जिससे की खिड़की के कांच के दरवाजे टूट कर बिखर गए हैं और मंदिर भी क्षतिग्रस्त हो गया है।


आकाशीय बिजली गिरने से वृद्ध गंभीर रूप से झुलसा
सीएचसी में कराया गया भर्ती


परिजनों व ग्रामीणों में मचा रहा हड़कंप



बिंदकी फतेहपुर। सुबह खेतों की ओर गया वृद्ध अचानक हल्की बारिश होने के कारण एक आम के पेड़ के नीचे खड़ा हो गया तभी तेज चमक के साथ आकाशीय बिजली गिरी जिससे वृद्ध गंभीर रूप से झुलस गया लोगों को जानकारी हुई तो हड़कंप मच गया निजी वाहन से लाकर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया गया। जानकारी के अनुसार कोतवाली क्षेत्र के बहरौली गांव निवासी सुरेंद्र कुमार मिश्रा 62 वर्ष शनिवार की सुबह साइकिल द्वारा अपने खेतों की ओर गए थे तभी अचानक हल्की बारिश शुरू हुई तो वह अपनी साइकिल खड़ी कर एक आम के पेड़ के नीचे खड़े हो गए तभी अचानक तेज चमक के साथ आकाशीय बिजली गिरी जिससे वह झुलस गए और गिर पड़े लोगों ने देखा तो उनकी ओर दौड़े परिजन भी पहुंचे उठाकर घर लाए इस हादसे के बाद गांव में हड़कंप मचा रहा लोगों की भारी भीड़ लग गई परिजन निजी वाहन से लेकर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पहुंचे आकाशीय बिजली गिरने से झुलसे वृद्ध की हालत ठीक बताई जाती है


झारखंड में संक्रमितो की संख्या 33

रांची। झारखंड में कोरोना का कहर जारी है। मरीजों की संख्‍या में लगातार बढोतरी हो रही है। हिंदपीढ़ी में शनिवार को फिर एक कोरोना पॉजिटिव मरीज मिला है। जिसके साथ ही झारखंड में मरीजों की संख्‍या 33 हो गई है। जिसमें से दो लोगों की मौत भी हो चुकी है। एक मरीज हिंदपीढ़ी का है और एक बोकारो के साड़म का है। रिम्‍स में 93 सैंपल जांच के लिए लिया गया था, जिसमें 92 सैंपल निगेटिव आये वहीं एक सैंपल पॉजिटिव पाया गया। वहीं हिंदपीढ़ी में कोरोना में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्‍या 18 हो गई।


रिम्‍स में 93 सैंपल जांच के लिए लिया गया था, जिसमें 92 सैंपल निगेटिव आये, वहीं एक सैंपल पॉजिटिव पाया गया। हिंदपीढ़ी में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्‍या बढ़कर 18 हो गई है। हिंदपीढ़ी से मिला 18वां कोरोना पॉजिटिव मरीज वेस्‍टइंडीज का रहनेवाला है और जमात में रांची आया था।


झारखंड में भी कोरोना अपना पांव पसारते जा रहा है। राज्‍य में लगातार कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्‍या बढ़ती जा रही है। 31 मार्च को रांची के हिंदपीढ़ी से पहला मामला सामने आया था। जहां 22 साल की मलेशियाई महिला में कोरोना की पुष्टि हुई थी। महिला तबलीगी जमात में शामिल होकर हिंदपीढ़ी में रह रही थी। पुलिस को मिली सूचना के बाद उसे क्वारंटाइन में भेज कर जांच कराई गई थी, जिसमें उसके पॉजिटिव होने की बात सामने आयी थी। जिसके बाद संक्रमित महिला को रिम्स  के आइसोलेशन वार्ड में इलाज के लिए भर्ती किया गया था। जहां उसका इलाज चल रहा है। 31 मार्च से लेकर 15 अप्रैल तक कुल 29 कोरोना पॉजिटिव मरीजों की झारखंड में पुष्टि हो चुकी है। जिसमें दो लोगों की मौत भी हो चुकी है। एक रांची के हिंदपीढ़ी इलाके के मरीज की और दूसरी मौत बोकारो जिले के गो‍मिया प्रखंड के साड़म में बुजुर्ग मरीज की मौत हो चुकी है। वहीं 13 अप्रैल की रात हजारीबाग मेडिकल कॉलेज के आइसोलेशन वार्ड में एक 85 वर्षीय कोरोना संदिग्‍ध महिला की मौत हो गई। वहीं इससे पहले राजधानी के सबसे बड़े अस्‍पताल रिम्‍स में भी दो कोरोना संदिग्‍धों की मौत हो चुकी है।


झारखंड में कब, कहां और कितने मिले कोरोना पॉजिटिव मरीज  


1st Case : झारखंड में पहला केस 31 मार्च को राजधानी के हिंदपीढ़ी से सामने आया था। जहां 22 साल की मलेशियाई महिला में कोरोना की पुष्टि हुई थी। महिला तबलीगी जमात में शामिल होकर हिंदपीढ़ी में रह रही थी। पुलिस को मिली सूचना के बाद उसे क्वारंटाइन में भेज कर जांच कराई गई थी, जिसमें उसके पॉजिटिव होने की बात सामने आयी थी। जिसके बाद संक्रमित महिला को रिम्स  के आइसोलेशन वार्ड में इलाज के लिए भर्ती किया गया।


2nd Case : राज्य  में दूसरा कोरोना पॉजिटिव का मामला 2 अप्रैल को आया था। वह हजारीबाग के विष्णुगढ़ का रहनेवाला था और कुछ दिन पहले ही बंगाल के आसनसोल से विष्णुवगढ़ लौटा था।


3rd Case : राज्य में तीसरा कोरोना केस 5 अप्रैल को बोकारो से सामने आया था। वह महिला अपने परिवार के साथ बांग्लादेश से लौटी थी। जांच के बाद उसमें कोरोना की पुष्टि हुई थी। जिसके बाद पूरे परिवार को क्वारंटाइन में रखा गया था। वो महिला तबलीगी जमात में शामिल हुई थी।


4th Case : राज्य में चौथे कोरोना पॉजिटिव मरीज की पुष्टि 6 अप्रैल को हुई थी। राजधानी रांची के हिंदपीढ़ी से एक 54 वर्षीय महिला में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई थी। उनकी कोई ट्रैवेल हिस्ट्री नहीं है। वह डायलिसिस की मरीज थी और बरियातू के नेफ्रॉन क्लीननिक में डायलिसिस कराती थी। सूचना मिलने के बाद प्रशासन ने नेफ्रॉन क्लीनिक के 36 लोगों को क्वारंटाइन में रखा।


5th Case : झारखंड में पांचवां केस 08 अप्रैल को सामने आया। जिसमें कुल 9 लोग संक्रमित पाये गये थे। इनमें हिंदपीढ़ी के पांच, बोकारो के चंद्रपुरा में तीन और गोमिया में एक मरीज कोरोना पॉजिटिव शामिल थे। जिसमें गोमिया के मरीज की मौत हो गई है।


6th Case : झारखंड में छठा केस 09 अप्रैल को बोकारो के चंद्रपुरा से सामने आया। जहां एक मरीज में कोरोना की पुष्टि हुई।


7th Case : झारखंड में 11 अप्रैल को सातवां केस सामने आया। जिसमें कुल 3 कोरोना पॉजिटिव मरीजों की पुष्टि हुई थी। जिसमें हिंदपीढ़ी का एक हजारीबाग और कोडरमा से एक-एक मरीज शामिल थे। मालूम हो कि कोडरमा से मिला संक्रमित मरीज गिरिडीह का रहनेवाला था।


8th Case : झारखंड में 12 अप्रैल को आठवां केस सामने आया। जिसमें बोकारो के गोमिया के साड़म में दो कोरोना संक्रमित मरीजों की पुष्टि हुई थी।


9th Case : झारखंड में 13 अप्रैल को नौवां केस सामने आया। जिसमें कुल 5 कोरोना पॉजिटिव मरीजों की पुष्टि हुई। इनमें राजधानी रांची के हिंदपीढ़ी से तीन, बोकारो तथा गिरिडीह से एक-एक कोरोना पॉजिटिव मरीज मिले।


10th Case : झारखंड का 10वां मामला 14 अप्रैल को आया। जिसमें रांची के कोरोना हॉटस्‍पॉट हिंदपीढ़ी से 2 मरीजों की पुष्टि हुई, वहीं सिमडेगा से एक मरीज मिला। बता दें कि सिमडेगा का यह पहला मामला है।


11th Case : झारखंड में 11वां मामला 15 अप्रैल को आया। इसमें रांची के हिंदपीढ़ी का एक पॉजिटिव मरीज शामिल है।


12th Case : झारखंड में 12वां मामला 16 अप्रैल को आया। इसमें धनबाद के कुमारधुबी का एक मरीज कोरोना पॉजिटिव पाया।


13th Case : झारखंड में कोरोना का 13वां मामला 17 अप्रैल को आया। इसमें राजधानी रांची के हॉटस्‍पॉट हिंदपीढ़ी से तीनों कोरोना पॉजिटिव की पुष्टि हुई।


14th Case : झारखंड में कोरोना का 14वां मामला 18 अप्रैल को सामने आया। इसमें राजधानी रांची के हॉटस्‍पॉट हिंदपीढ़ी से ही एक मरीज कोरोना पॉजिटिव पाया गया। वह वेस्‍टइंडीज का निवासी है और जमात में रांची आया था।  


कोटेदारों ने लिया लॉक डाउन का लाभ

मऊगंज घुरेहटा के कोटेदार की लापरवाही का खामियाजा भुगत रहे गरीब कार्डधारी


प्रशासन मौन सुबह से कोटेदार का इंतजार में कोटे के सामने जुटी भीड़


एस डी एम मऊगंज से शिकायत करने पहुंची भीड़


लोगो ने कहा 10 किलो की जगह 08 किलो राशन दिया जा रहा खाद्यान्न


शोषण में उतारू लापरवाह कोटेदारों के खिलाफ प्रशासन को तत्काल दण्डात्मक कार्यवाही किये जाने से ही अव्यवस्था में सुधार सम्भव


रीवा। जनपद की तहसील मऊगंज एवं नगर परिषद के वार्ड क्रमांक 12 यूनियन बैंक के समीप स्थित कोटे के कोटेदर की लापरवाही का खामियाजा गरीबो को इस कठिन घड़ी में भी भुगतना पड़ रहा है। लोगो ने बताया कि कोटेदार राजेंद्र सिंह का रवैया पूर्ववत बना हुआ है। लोगों की माने तो कोटेदार एक दो दिन कुछ समय के लिए कोटा खोलने के बाद आज से कोटा बन्द कर गायब हो गये हैं। इस दौरान कोटेदार द्वारा 10 किलो की जगह 08 किलो खाद्यान्न दिया जा रहा है जब कम देने की बात कही जाती है तो लोगो से काफी अभद्रता भी का जा रही है।
जहाँ पर कोटा के सामने खाद्यान्न के लिए लोगो की भारी भीड़ जुटी रही है। जब इंतजार करते हुए जब सभी हितग्राही थक गये तो अपनी शिकायत लेकर एस डी एम मऊगंज माला त्रिपाठी से मिले और अपनी आप बीती सुनाई है।
अब आगे देखना होगा इस तरह की लापरवाही बरतने बालो के खिलाफ प्रशासन क्या कदम उठाता है।


यूपी पुलिस के अपराध का ग्राफ बढ़ा

महराजगंज। जहाँ लॉकडाउन में लोग परेशान हैं वही बृजमनगंज थाने में एक सिपाही द्वारा दो लोगों की बुरी तरह पिटाई करने का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने पर एसपी ने पिटाई करने वाले सिपाही को सस्पेंड कर पूरे मामले की जांच सीओ को सौप दिया है। 
बताते चले कि सोशल मीडिया पर एक सिपाही द्वारा थाने के कमरे में दो लोगों की जमकर पिटाई का वीडियो वायरल हुआ, जो एक अप्रैल की और बृजमनगंज थाने की बतायी जा रही है। मामला दो पक्षों के बीच मारपीट का था 30 अप्रैल को करमहा ग्राम में दो पक्षों में मारपीट हुई थी और एक अप्रैल को पुलिस दोनों में से एक पक्ष के दो लोगों को लेकर थाने आयी और वहां सिपाही ने दोनों की बुरी तरह पिटाई किया, इस का किसी ने वीडियो बना कर वायरल कर दिया।
वीडियो वायरल होने पर एसपी रोहित सिंह सजवान
ने इसकी जांच कराई और तत्काल प्रभाव से आरोपी सिपाही परमहंस गौड़ को सस्पेंड कर इस मामले की जांच सीओ फरेंदा को सौंपी दी है। एसपी रोहित सिंह सजवान ने कहा कि मामले की जांच कराई जा रही है अन्य किसी पुलिसकर्मी की संलिप्तता पाए जाने पर उसके विरुद्ध भी कार्रवाई की जाएगी।


गाजियाबाद पुलिस का एक और चेहरा

विजय भाटी


गाज़ियाबाद। नगर पालिका परिषद खोड़ा कालोनी में पुलिस का गरीब जनता के साथ आंख मिचौनी का खेल जारी । लॉक डाउन के नाम पर धड़ल्ले से की जा रही है अवैध वसूली। एसएसपी के अथक प्रयासों के बाबजूद खोड़ा पुलिस के जूंं तक नही रेंग रही है । ना एसएसपी का डर है और ना ही भगवान की लाठी का , और तो और इस धांधली में सभी लोग मिले हुए है। चाहे चौकी इंचार्ज हो या प्रभारी निरीक्षक सबका हिस्सा होता है। ऐसा कहा जा रहा है उन भ्रस्ट पुलिसकर्मियों के द्वारा । खोड़ा के अलग-अलग जगहों पर छोटे दुकानदारों से की जा रही अवैध वसूली । किसी भी दुकान पर अगर अंडे दिख जाते है उसके बाद शुरू होता है पुलिस का कार्यक्रम , गाड़ी में बिठाकर गलियों में घुमाया जाता है साथ मे पिटाई इस लिए की जाती है जिससे रेट बढ़ता है । कई लोगों से बीरबल चौकी क्षेत्र में पीसी 62 और इसके अतिरिक्त और भी पीसी इसी कार्य मे लगी है । इस बात की पड़ताल की अवैध वसूली का खेल क्या है तो जानकर आचर्य हुआ । पीसी 62 ने कई लोगों को दुकान से उठाकर वसूली की है, पिटाई का कोई अंत नही है । क्या खोड़ा की पुलिस के लिए नियम अलग से है।


रक्षा सौदे से पाक को हुई घबराहट

नई दिल्ली। अमेरिका और भारत के बीच रक्षा सौदा को मंजूरी मिलने पर पाकिस्तान की चिंता बढ़ गई है। पाकिस्तान ने अमेरिका पर आरोप लगाया कि वह भारत को जहाज-रोधी मिसाइलें देकर क्षेत्र में अस्थिरता पैदा कर रहा है। अमेरिका ने सोमवार को 15.5 करोड़ डॉलर की हारपून ब्लॉक-2 एयर लॉन्चड मिसाइलें और हल्के वजन के टॉरपीडो भारत को बेचने की मंजूरी दी थी। इस पर पाकिस्तान की बौखलाहट बढ़ गई है। पाकिस्तान के विदेश कार्यालय के प्रवक्ता आइशा फारुकी ने कहा कि अमेरिका का भारत को मिसाइलों की बिक्री क्षेत्रीय शांति के लिए खतरा है। जब सारी दुनिया महामारी से लड़ रही हैं, ऐसे में इस तरह की मिसाइल प्रणालियों की बिक्री, तकनीकी सहायता और लॉजिस्टिक समर्थन देना परेशान करने वाला कदम है। यह दक्षिण एशिया में पहले से ही अस्थिर स्थिति को अस्थिर करेगा। बता दें कि पेंटागन ने रक्षा सौदे के बारे में अमेरिकी संसद को अवगत कराते हुए कहा कि भारत हारपून ब्लॉक-2 और एमके-54 का इस्तेमाल क्षेत्रीय खतरों से निपटने और अपनी धरती की सुरक्षा बढ़ाने के लिए करेगा। 


पाकिस्तानी सेना ने पुंछ में गोलाबारी की


वहीं पाकिस्तानी सेना ने शुक्रवार को जम्मू-कश्मीर के पुंछ जिले में नियंत्रण रेखा (एलओसी) पर रिहायशी इलाकों और अग्रिम चौकियों पर गोलाबारी की। भारतीय सेना ने इसका करारा जवाब दिया। अधिकारियों ने यह जानकारी दी। शुक्रवार को लगातार 13वें दिन गोलाबारी और गोलीबारी की गई। अधिकारियों ने बताया कि पाकिस्तान ने पुंछ और राजौरी जिलों के तीन सेक्टरों में गुरुवार को एलओसी पर रिहायशी इलाकों और अग्रिम चौकियों को निशाना बनाया था। रक्षा प्रवक्ता लेफ्टिनेंट कर्नल देवेंद्र आनंद ने कहा कि आज पूर्वान्ह्र लगभग 11 बजे पाकिस्तानी सेना ने पुंछ जिले के कस्बा और किरनी सेक्टरों को निशाना बनाकर अकारण संघर्ष विराम का उल्लंघन किया। उन्होंने कहा कि भारतीय सेना इन सभी सेक्टरों में कड़ी जवाबी कार्रवाई कर रही है।


पाक के मोर्टार के छह गोले निष्क्रिय किए
जम्मू। सुरक्षा बलों ने नियंत्रण रेखा से लगे जम्मू-कश्मीर के पुंछ जिले में पाकिस्तान की ओर से दागे गए मोर्टार के छह गोलों को निष्क्रिय कर दिया। अधिकारियों ने शुक्रवार को यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि सुरक्षा बलों को पाकिस्तानी सेना की ओर से जिले के कृष्णा घाटी, मेंढर और बालाकोट सेक्टरों में दागे गए मोर्टार के छह जिंदा गोले मिले, जिन्हें बम निरोधक दस्ते ने निष्क्रिय कर दिया।


दावाः सितंबर में आएगी कोरोना वैक्सीन

लंदन। दुनिया के लगभग सभी देशों को प्रभावित कर चुके कोरोना वायरस से 22 लाख से ज्यादा लोग संक्रमित हैं। जबकि डेढ़ लाख से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। कई देश इस बीमारी का इलाज करने के लिए शोध कर रहे हैं। वायरस से सबसे ज्यादा प्रभावित देशों की सूची में शामिल ब्रिटेन भी उन देशों में शामिल है जिसके वैज्ञानिक कोरोना का उपचार ढूंढने के लिए शोध में जुटे हुए हैं। ब्रिटेन के ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय में वैक्सीनोलॉजी विभाग की प्रोफेसर सारा गिल्बर्ट ने कोरोना वायरस का वैक्सीन बनाने का दावा किया है। पत्रकारों से शुक्रवार को बात करते हुए गिलबर्ट ने सितंबर तक कोरोना का टीका आने का दावा किया है। उन्होंने कहा कि हम महामारी का रूप लेने वाली एक बीमारी पर काम कर रहे थे जिसे एक्स का नाम दिया गया था। इसके लिए हमें योजना बनाकर काम करने की जरुरत थी। उन्होंने कहा कि सीएचएडीओएक्स1 तकनीक के साथ इसके 12 परीक्षण किए जा चुके हैं। हमें इसके एक डोज से ही रोग-प्रतिरोधक क्षमता को बेहतर बनाने के परिणाम मिले हैं। वहीं आरएनए और डीएनए तकनीक में इसके दो या दो से ज्यादा डोज की जरुरत होती है। प्रोफेसर गिल्बर्ट ने जानकारी दी कि इसका क्लिनिकल ट्रायल शुरू हो चुका है। इसकी सफलता पर विश्वास जताते हुए उन्होंने कहा कि सितंबर तक इसके 10 लाख डोज उपलब्ध हो जाएंगे।
ऑक्सफोर्ड की टीम को इस टीके पर इतना विश्वास है कि उसने क्लिनिकल ट्रायल से पहले ही इसका उत्पादन शुरू कर दिया है। इस बारे में प्रोफेसर एड्रियन हिल का कहना है कि टीम आत्मविश्वास से भरी हुई है। वे सितंबर तक क्लिनिकल ट्रायल का इंतजार नहीं करना चाहते। उन्होंने कहा कि हमने जोखिम के साथ बड़ी तादाद में वैक्सीन का उत्पादन शुरू कर दिया है। दुनिया के विभिन्न हिस्सों में कुल सात निर्माताओं के साथ इसका उत्पादन किया जा रहा है।
प्रोफेसर हिल का कहना है कि सात निर्माताओं में से तीन ब्रिटेन, दो यूरोप, एक चीन और एक भारत से हैं। उन्होंने उम्मीद जताई कि इस साल सितंबर या साल के अंत तक इस टीके के 10 लाख डोज उपलब्ध हो जाएंगे। उन्होंने कहा कि 510 वॉलंटियर्स के साथ तीन चरणों के ट्रायल की शुरुआत हो गई है। उम्मीद है कि तीसरे चरण में 5000 वॉलंटियर्स हमसे जुड़ेंगे।


सीएम से कांग्रेस की 7 सूत्रीय मांग

हल्द्वानी। काग्रेस जिला महामंत्री हेमन्त साहू ने राजकीय मेडिकल कॉलेज हल्द्वानी में घटिया पीपीई किट सप्लाई करने वालो पर कठोर कार्रवाई करने व कोरोना वार्ड में ड्यूटी कर रहे सभी कर्मचारियों को बेहतर सुविधा देने समेत 7 सूत्रीय मांग का मेल सीएम को भेजा है।


 बिन्दु: 1 हल्द्वानी राजकीय मेडिकल कॉलेज सुशीला तिवारी अस्पताल में कोरोना वार्ड में उपनल कर्मचारियों की जगह स्थाई कर्मचारियों को ड्यूटी में तैनात किया जाये मा. उपनल कर्मचारियों को महज 8300 मासिक वेतन मिलता है जबकि स्थाई कमर्चारियों लगभग 25000 हजार रुपये मिलते हैं जिससे उपनल कर्मचारियों में आक्रोश है अभी तक एक भी स्थाई कर्मचारी की कोरोना वार्ड में तैनाथ नही किया गया।


बिन्दु :2 कुछ कर्मचारियों को पिछले दो माह से वेतन नहीं मिला जिसको भी तत्काल उपलब्ध कराया जाये।


बिन्दु : 3 सभी कर्मचारियों को बेहतर गुणवंता का भोजन उपलब्ध कराया जाये व समय समय पर भोजन की गुणवत्ता की जाँच के आदेश देने की कृपा करें।
बिन्दु : 4 कर्मचारी को सैनिटाइजर क्यों नहीं दिया जा रहा है इसके दोषियों पर कठोर कार्रवाई अमल में लाई जाये।


 बिन्दु :5 डॉक्टर सुशीला तिवारी हॉस्पिटल में रोस्टर बनाकर ही ड्यूटी में कमर्चारियों को  लगाया जाये।


 बिन्दु :6 टेंडर के बगैर कोई खरीददारी ना हो साथ ही साथ धांधली बाजी को रोकने के लिए ठोस कदम उठाए जाये।


बिन्दु:7 मरीजों की संख्या अधिक हो जाती है तो उससे निपटने के लिए अधिक कर्मचारियों को होटलों में ठहराने और उनके खाने की उचित व्यवस्था के अभी से इंतजाम किए जाये। साहू का कहना कहना पीपीई किट समेत अन्य खरीदारी में सुशीला तिवारी होस्पिलट में हो रही धंधली को रोकना चहिये। साथ ही डॉक्टरों कर्मचारियों को बेहतर से बेहतर सुविधाओं उपलब्ध करने प्रशासन इंतजाम करे जो भी निर्णय हो उसमें उपजिलाधिकारी व सिटी मजिस्ट्रेट को अवगत कराया जाये।


उत्तराखंड में संक्रमितो की संख्या- 42

देवम मेहता 


देहरादून। उत्तराखंड में जहां पिछले चार-पांच दिन से  कोरोना संक्रमित मरीजों  की संख्या स्थिर बनी हुई थी वही कल से यह संख्या बढ़ती जा रही है। कल 3 कोरोना पॉजिटिव के मामले सामने आई तो आज शनिवार को हरिद्वार जिले में दो और कोरोना पॉजिटिव मरीज मिले। इनमें एक महिला और एक पुरुष है। सीएमओ डॉ. सरोज नैथानी और प्रभारी सचिव पंकज कुमार पांडे ने इसकी पुष्टि की है। शुक्रवार को तीन और लोग कोरोना संक्रमित पाए गए थे।
उत्तराखंड में शनिवार को दो और लोग कोरोना संक्रमित पाए गए। संक्रमित मरीजों की संख्या 42 हो गई है। इनमें से नौ मरीज ठीक हो चुके हैं। अभी हेल्थ बुलेटिन आना बाकी है।


रमजानः मस्जिद में नमाज पर प्रतिबंध

हेमंत शर्मा


रायपुर। रमज़ान को छत्तीसगढ़ वक़्फ बोर्ड ने एडवायजरी जारी की है। वक़्फ बोर्ड ने एडवायजरी में कहा कि रमज़ाम महीने के दौरान मस्जिदों में नमाज़ नहीं होगी। सभी घर में ही नमाज़ अदा करेंगे। मस्जिद में नमाज़ प्रतिबंधित रहेगा।समयानुसार लाउडस्पीकर पर अज़ान देने की सुविधा रहेगी।सभी से लॉकडाउन के निर्देशों का कड़ाई से पालने करने को कहा गया है।


रमज़ान का महीना 25 अप्रैल से शुरू हो रहा है। रमज़ान या रमदान इस्लामी कैलेण्डर का नवां महीना है। मुस्लिम समुदाय इस महीने को परम पवित्र मानता है। इस मास की विशेषताएं महीने भर के रोज़े रखना रात में तरावीह की नमाज़ पढना क़ुरान तिलावत करना एतेकाफ़ बैठना, यानी गांव और लोगों की अभ्युन्नती व कल्याण के लिये अल्लाह से दुआ करते हुवे मौन व्रत रखना। ज़कात देना दान धर्म करना है।


गरुड़ ड्रोन से सैनिटाइजेशन का काम

वाराणसी। वाराणसी में कोरोना पॉजिटिव मरीजों के बढ़ते मामलों को देखते हुए बड़े स्तर पर सेनेटाइजेशन का काम शुरू किया गया है। ज्यादा से ज्यादा इलाकों को कम समय में सेनेटाइज करने के लिए चेन्नई से अत्याधुनिक गरुड़ एयरस्पेस का ड्रोन मंगाया गया है। शनिवार की सुबह हॉटस्पॉट मदनपुरा से ड्रोन ने सेनेटाइजेशन शुरू किया।


वाराणसी में 14 मामले सामने आ चुके हैं। इनमें एक की मौत भी हो चुकी है। इसके बाद पांच इलाकों को हॉटस्पॉट मानते हुए सील किया जा चुका है। शुक्रवार को ही एक साथ पांच मामले सामने आने से सतर्कता बढ़ा दी गई है। कुछ समय पहले ही सरकार ने देश की चुनिंदा स्मार्ट सिटी में इस तरह के ड्रोन से सेनेटाइजेशन का फैसला लिया था। यह ड्रोन कम समय में ज्यादा से ज्यादा इलाकों को कवर कर सकता है। एक बार में यह दस लीटर केमिकल लेकर उड़ सकता है। ड्रोन सौ मीटर की ऊंचाई तक उड़ते हुए केमिकल का छिड़काव कर सकता है। इससे न सिर्फ सड़कों को सेनेटाइनज करने में मदद मिल रही है बल्कि गलियों, दीवारों और मकानों की छतों को भी सेनेटाइज किया जा रहा है।नगर स्वास्थ्य अधिकारी रामशकल यादव के अनुसार गरुड़ ड्रोन एक बार में दस किलो केमिकल लेकर बीस किलोमीटर एरिया को सेनेटाइज कर सकता है। अभी तक हम लोग सड़कों और दीवारों पर केवल सात मीटर तक ही केमिकल का छिड़काव कर सकते थे। इसके जरिये ऊंची दीवारों और मकानों की छतों को भी सेनेटाइज किया जा रहा है।


बांग्लादेशी सहित 14 जमाती भेजें जेल

जनपद में बांग्लादेशी सहित 14 जमातियों को भेजा गया जेल, वीजा और लॉकडाउन उल्लंघन में मुकदमा
प्रशांत कुमार


भदोही। जनपद में दिल्ली के निजामुद्दीन मरकज मस्जिद के तब्लीगी जमात में शामिल हुए बांग्लादेशी सहित 14 जमाती शुक्रवार को कड़ी सुरक्षा के बीच मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट अभिनव यादव की अदालत में पेश किए गए। कोर्ट ने उन्हें 14 दिन के न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया। उनके लिए कलेक्ट्रेट परिसर में स्थित सैनिक पुनर्वास केंद्र में अस्थायी जेल बनाया गया है। 


मिली जानकारी के अनुसार जिले के काजीपुर स्थित मरकज मस्जिद के निजी गेस्ट हाउस में छिपाए गए 11 बांग्लादेशी और तीन भारतीय को पकड़ लिया गया था। उनका स्वैब जांच के लिए भेजा गया था। रिपोर्ट निगेटिव आने पर उन्हें क्वरंटाइन में रखा गया था। क्वारंटाइन पूर्ण होने के बाद शुक्रवार को मो. इंसेर अली, त्वाहिदुल इस्लाम परवेज, सैयद मोहिबुर्रहमान, नजरूल हक, नवाज अली, नजरूल इस्लाम, दराज्जुद्दीन मुतब्बर, रफिकुल इस्लाम, फैजल रैबी, शेख अख्तरुज्जमा, मनौवर रसीद, जमात अली, शहिदुल्ला, अनवर हुसैन को गिरफ्तार कर लिया गया।


बता दे कि पुलिस ने मामला संज्ञान में आने पर उनके खिलाफ वीजा और लॉकडाउन उल्लंघन के आरोप में मामला दर्ज किया गया। पुलिस ने उनका बांग्लादेश का वीजा भी जब्त कर लिया। मेडिकल कराने के बाद आरोपितों को सीजेएम कोर्ट में पेश किया गया। कोर्ट ने आरोपितों को 14 दिन के न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया है। एसपी रामबदन ने बताया कि निर्देश मिलने पर जमातियों को जेल भेज दिया गया। उनके लिए कलेक्ट्रेट परिसर में अस्थायी जेल बनाया गया है।


20 अप्रैल से शुरू होगी टोल टैक्स वसूली

नई दिल्ली। सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय ने एनएचएआई को लिखे पत्र में कहा है, ‘केन्द्रीय गृह मंत्रालय द्वारा सभी ट्रकों और अन्य मालवाहक वाहनों को राज्य के भीतर और राज्यों में आवागमन के लिए जो छूट दी गयी थी, उसी संबंध में एनएचएआई को गृह मंत्रालय के आदेश का पालन सुनिश्चित करने के लिए जरूरी कार्रवाई करनी चाहिए और टोल टैक्स की वसूली 20 अप्रैल, 2020 से की जानी चाहिए।’सरकार ने कोरोना वायरस के मद्देनजर लागू राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन के दौरान 25 मार्च से टोल टैक्स की वसूली अस्थाई तौर पर रोक दी थी ताकि आवश्यक वस्तुओं की ढुलाई में आसानी हो।


एनएचएआई के पत्र का जवाब देते हुए, मंत्रालय ने कहा कि एनएचएआई ने 11 और 14 अप्रैल की अपनी चिट्ठियों में टोल टैक्स वसूली शुरू करने का कारण बताते हुए कहा था कि गृह मंत्रालय ने व्यावसायिक एवं निजी प्रतिष्ठानों तथा विनिर्माण गतिविधियों सहित कई कार्यों को 20 अप्रैल से अनुमति दे दी है। पत्र में लिखा है कि एनएचएआई ने कहा है कि टोल टैक्स की वसूली से सरकार को राजस्व मिलता है और इससे एनएचएआई को भी धन लाभ होता है।


हालांकि, परिवहन उद्योग से जुड़े ऑल इंडिया मोटर ट्रांसपोर्ट कांग्रेस (एआईएमटीसी) ने सरकार के इस कदम का विरोध करते हुए कहा है कि यह बहुत ही गलत है, सरकार चाहती है कि आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति अबाध जारी रहे, और हमारा समुदाय तमाम बाधाओं के बावजूद ऐसा कर रहा है। बता दें कि एआईएमटीसी के तहत करीब 95 लाख ट्रक और परिवहन प्रतिष्ठान आते हैं।


भारतीय नौसेना में 21 नाविक संक्रमित

नई दिल्ली। कोरोनावायरस ने भारतीय नौसेना को भी अपनी चपेट में ले लिया है। 21 नाविक कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। इन सभी को मुंबई के कोलाबा में स्थित नौसेना अस्पताल आईएनएचएस अश्विनी में भर्ती कराया गया है। आर्मी के बाद नौसेना में संक्रमण का पहला मामला है। नेवी ने बताया कि ये सभी एक नाविक के संपर्क में आए थे, जिसका 7 अप्रैल को टेस्ट पॉजिटिव आया था।


नौसेना ने न्यूज एजेंसी एएनआई को बताया, 'मुंबई में नौसेना परिसर में 21 नेवी पर्सनल की कोविड-19 रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। इसमें नौसेना बेस आईएनएस आंग्रे के 20 नाविक शामिल हैं।' ये सभी आईएनएस-आंग्रे में रह रहे थे। नौसेना के अफसर उन लोगों का पता लगा रहे हैं, जो संक्रमित नौसैनिकों के संपर्क में आए हैं। इस बात का भी पता लगाया जा रहा है कि संक्रमित नौसैनिक ड्यूटी या फिर अन्य कामों से किन-किन जगहों पर गए थे। आईएनएस आंग्रे को सील किया गयाः आईएनएस आंग्रे को सील कर दिया गया है। सभी आवासीय ब्लॉक के लोगों को क्वारैंटाइन कर दिया और इसे कंटेनमेंट जोन घोषित किया है। निर्धारित प्रोटोकॉल के तहत कार्रवाई की जा रही है। नेवी का कहना है कि शिप्स और सबमरीन पर कोई संक्रमण का केस सामने नहीं आया है। आर्मी में 8 जवान कोरोना से संक्रमितः आर्मी चीफ जनरल एमएम नरवणे ने 17 अप्रैल को बताया था कि सेना में कोरोना संक्रमण के 8 मामले सामने आए हैं। इनमें दो डॉक्टर और एक नर्स भी शामिल है। वहीं, हमारे जो जवान किसी कोरोना संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में नहीं आए, उन्हें यूनिट में वापस भेजा जा रहा है। हमने इसके लिए एक बेंगलुरु से जम्मू और दूसरी बेंगलुरु से गुवाहाटी, दो स्पेशल ट्रेनें निर्धारित की हैं। क्यों अहम है आईएनएस आंग्रे? मुंबई के नेवी डॉकयार्ड में मौजूद आईएनएस आंग्रे वेस्टर्न नेवल कमांड का एडमिनिस्ट्रेटिव और लॉजिस्टिक बेस है। समुद्रतट पर बने आईएनएस आंग्रे से कुछ ही मीटर की दूरी पर कई सारे युद्धपोत और पनडुब्बियां रहती हैं। आंग्रे से ही मुंबई में मौजूद नौसेना की यूनिट और फैसिलिटी ऑपरेट की जाती हैं। मुंबई देश में कोरोना से सबसे ज्यादा प्रभावित शहर है, महाराष्ट्र मेंअब तक 3323 केस मिल चुके हैं। दुनिया की नौसेनाओं पर कोरोना का असरः फ्रांस में फ्रेंच न्यूक्लियर पावर एयरक्राफ्ट कैरियर युद्धपोत शार्ल द गोल पर मौजूद 1081 क्रू कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। अमेरिका के न्यूक्लियर एयरक्राफ्ट कैरियर रूजवेल्ट के 660 क्रू मेंबर का कोरोना टेस्ट पॉजिटिव आया था।


चीन ने इथोपिया भेजें चिकित्सा विशेषज्ञ

आदीश अबाबा। स्थानीय समयानुसार चीन द्वारा भेजा गया चिकित्सा विशेषज्ञ दल इथियोपिया की राजधानी अदीस अबाबा के अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे में पहुंचा। इस दल में कुल 12 चिकित्सा विशेषज्ञ हैं। जो चीन सरकार द्वारा अफ़्रीका में भेजा गया पहला चिकित्सा विशेषज्ञ दल है। वे इथियोपिया में 15 दिनों तक काम करेंगे। साथ ही चार्टर विमान में इथियोपिया को सहायता देने के लिये रक्षात्मक उपकरण भी शामिल हुए हैं।


बुर्किना फासो सरकार के निमंत्रण पर चीनी विशेषज्ञ दल 16 अप्रैल को बुर्किना फासो की राजधानी औगाडौगौ पहुंचा। दल में कुल 12 सदस्य शामिल हैं। उन्होंने स्थानीय लोगों को महामारी की रोकथाम से जुड़े चिकित्सा सामान भी दिये हैं।  बुर्किना फासो में कोविड-19 के कुल 546 पुष्ट मामले और 32 मृत मामले दर्ज किये गए हैं। वर्तमान में 257 रोगियों का उपचार चल रहा है। रवांडा के स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा 16 अप्रैल को जारी विज्ञप्ति के अनुसार इस देश में उसी दिन कोविड-19 के और दो नये मामलों की पुष्टि की गयी। रोगियों की कुल संख्या 138 तक पहुंच गयी। 60 रोगी उपचार के बाद स्वस्थ हो गये हैं। अब मौजूदा मामलों की संख्या 78 है। चीनी विशेषज्ञों ने इंटरनेट कांफरेंस के माध्यम से रवांडा के चिकित्सकों के साथ अस्पताल के प्रबंध, आपात प्रतिक्रिया, और चिकित्सकों के प्रशिक्षण आदि अनुभव साझा किया। स्थानीय समयानुसार चीन सरकार द्वारा नाइजीरिया को भेजे गये दूसरे खेप वाला चिकित्सा सामान नाइजीरिया की राजधानी अबुजा पहुंचा। उस सामान में चिकित्सा रक्षात्मक कपड़ा, केएन95 मास्क, सामान्य चिकित्सा मास्क आदि आवश्यक चीजें शामिल हुई हैं। राजधानी ब्राजाविल में चीन सरकार ने कांगो(ब्राजाविल) सरकार को महामारी की रोकथाम से जुड़ी सामग्री दान की। कांगो(ब्राजाविल) की स्वास्थ्य मंत्री जैक्वेलिन लिदिया मिकोलो ने इस रस्म में भाग लिया। उन्होंने कहा कि वर्तमान में कांगो(ब्राजाविल) में महामारी तेजी से फैल रही है। महामारी की रोकथाम से जुड़े सामान का अभाव है। चीन द्वारा तेजी से दिया गया सामान बहुत आवश्यक है। चीनी सामान का मापदंड बहुत ऊंचा है, और गुणवत्ता भी बहुत अच्छी है। जो महामारी की रोकथाम में सकारात्मक भूमिका अदा करेगा।


चंद्रिमा


रूस में संक्रमितो की संख्या- 32000

मास्को। रूस में संक्रमितों की संख्या 32 हजार के आंकड़े को पार कर गई है। पिछले चौबीस घंटे में 4,070 लोग और संक्रमित हुए हैं। संक्रमितों में आधे मास्को और उसके आसपास के इलाकों के रहने वाले हैं। वहीं स्वास्थ्य अधिकारियों ने चेतावनी दी है कि आने वाले दो से तीन हफ्तों में हालात बदतर हो सकते हैं। इस दौरान राजधानी मास्को में संक्रमितों की संख्या में अप्रत्याशित बढ़ोतरी दर्ज की जा सकती है। कोरोना से अब तक रूस में 273 लोगों की मौत हो चुकी है। पिछले चौबीस घंटे में 41 लोगों की जान गई है।


दुनियाभर में 21.4 लाख चपेट मेंः समाचार एजेंसी रॉयटर के मुताबिक, दुनियाभर में 21.4 लाख से ज्‍यादा लोग कोरोना संक्रमण की चपेट में आ गए हैं जबकि 143,744 लोगों की मौत हो चुकी है। यूरोप के सबसे बड़े शहर मास्को में मार्च से लॉकडाउन है। एक महीने से ज्यादा समय से शहर की 1.20 करोड़ की आबादी ताले में बंद है, लेकिन अधिकारियों ने शिकायत की है कि लोग लॉकडाउन के नियमों का उल्लंघन कर रहे हैं। सोशल मीडिया पर जारी एक वीडियो मैसेज में डिप्टी मेयर अनास्तासिया राकोवा ने चेतावनी दी है कि आने वाले दो से तीन सप्ताह मुश्किल भरे होंगे।


बांग्लादेशः समुंद्री क्षेत्र में मछलियां खत्म

बांग्लादेश एक ऐसी जगह है जहां की एक बड़ी आबादी मछलियों पर निर्भर है।


ढ़ाका। वैज्ञानिकों ने चेतावनी दी है कि अगर बांग्लादेश में इसी तेजी से मछलियां पकड़ी जाती रहीं तो आने वाले सालों में बांग्लादेश के समुद्री क्षेत्र में मछलियां ख़त्म हो जाएंगी। बंगाल की खाड़ी पर आधारित एक रिपोर्ट कहती है कि इस क्षेत्र में ज़्यादातर मछलियों की प्रजातियों की आबादी घट रही है, वहीं कुछ मछलियों की प्रजातियां विलुप्त होने की कगार पर पहुंच चुकी हैं। थाइलैंड जैसा हाल न हो जाएः इस रिपोर्ट के लेखक सयैदुर रहमान चौधरी बताते हैं, "दुनिया में कुछ समुद्रों में, जैसे थाइलैंड की खाड़ी में मछलियां ख़त्म हो चुकी हैं। हम बंगाल की खाड़ी का यही हश्र होते हुए देखना नहीं चाहते हैं। बांग्लादेश दुनिया के सबसे ज़्यादा आबादी वाले देशों में से एक है।


गोल्फ टूर्नामेंट रद्द, स्कॉटिश ओपन स्थगित

बर्लिन/ पेरिस। कोविड-19 महामारी के कारण जर्मनी में आयोजित होने वाले ‘बीएमडब्ल्यू इंटरनेशनल ओपन’ और फ्रांस में खेले जाने वाले ‘ओपन डी फ्रांस’ गोल्फ टूर्नामेंट को रद्द जबकि स्कॉटिश ओपन को स्थगित कर दिया गया है। 
 


बीएमडब्ल्यू इंटरनेशनल ओपन का आयोजन म्यूनिख में 25 से 28 जून तक होना था जबकि ओपन डी फ्रांस को इसके एक सप्ताह के बाद खेला जाना था। जर्मनी की चांसलर एंजेला मर्केल ने 31 अगस्त तक देश में बड़े सार्वजनिक समारोहों पर प्रतिबंध लगाया है जबकि फांस की सरकार ने जुलाई के मध्य तक ऐसे प्रतिबंध लगाए हैं। 
स्कॉटिश ओपन को 9-12 जुलाई तक खेला जाना था जिसे स्थगित कर नई तारीख पर चर्चा की जा रही है। 


ब्रिटेन-फ्रांसः चीन से पूछा, कैसे फैला वायरस

अमेरिका के बाद ब्रिटेन-फ्रांस ने चीन से पूछा- कैसे फैला कोरोनावायरस?


ब्रिटेन के विदेश मंत्री डॉमनिक राब ने कहा कि कोरोना महामारी कोरोना वायरस को लेकर चीन को कड़े सवालों के जवाब देने होंगे।


लॉक डाउनः सड़कों पर भीड़ रोकने को दिल्ली पुलिस ने उतारी बाइकर्स टीम।


लंदन/ पेरिस। दुनिया में कोरोना वायरस महामारी से बचने के लिए एक तरफ दुनिया जूझ रही है तो दूसरी तरफ उसके इलाज और वैक्सीन की भी कोशिशें तेज़ हैं। लेकिन इन सबके बीच कोरोनावायरस को लेकर सवाल अब आरोप बनने लगे हैं।अमेरिका के बाद ब्रिटेन और फ्रांस ने भी चीन से कोरोनावायरस के बारे में सवाल किया कि वुहान से वायरस दुनिभर में फैलने कैसे दिया गया और उसे रोका क्यों नहीं?
ब्रिटेन के विदेश मंत्री डॉमनिक राब ने कहा कि कोरोना महामारी को लेकर चीन को कड़े सवालों के जवाब देने होंगे.डॉमिनिक राब ने कहा की चीन को बताना होगा कि कोरोना महामारी कैसे फैली और उसे रोकने की क्या कोशिश हुई? डॉमिनिक राब ने कहा कि अब चीन के साथ पहले की तरह कारोबार सामान्य नहीं हो सकेगा. राब ने कहा कि चीन को इन सवालों का जवाब देना होगा कि कोरोनावायरस आया कैसे और उसे दुनिया में फैलने से रोका क्यों नहीं जा सका। ब्रिटेन ने कहा कि डब्लूएचओ और दूसरे अंतर्राष्ट्रीय संगठनों के साथ मिलकर ये पता किया जाएगा कि महामारी फैली कैसे और इसे रोकने के लिए क्या किया जा सकता है?हालांकि चीन लगातार कोविड19 को लेकर पारदर्शिता न बरतने के आरोपों से इनकार करता रहा है. लेकिन जिस तरह से वुहान में कोरोना संक्रमण से मौत के आंकड़ों में अप्रत्य़ाशित रूप से 1290 मौतों का ट्विस्ट आया है उससे चीन पर यूरोपीय देशों का शक गहरा गया है. वुहान में कोविड 19 से मरने वालों की संख्या में 50 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई है. ऐसे में सवाल ये भी उठता है कि वुहान में जो मौतें घर में हुईं तो क्या उनकी जानकारी चीन ने अपने आधिकारिक आंकड़ों में छुपाई?
फाइनेंशियल टाइम्स को दिए इंटरव्यू में फ्रांस के राष्ट्रपति इमैन्युल मैक्रों ने कोरोना संकट से निपटने में चीन के दावों पर संदेह जताया. इमैन्युअल मैक्रों ने कहा कि चीन में कोरोना से निपटने में ऐसा बहुत कुछ हुआ है जिसकी जानकारी हमें नहीं है. इससे पहले फ्रांस ने चीन के दूतावास की साइट पर छपे एक आर्टिकल पर आपत्ति दर्ज की थी और चीनी राजदूत को तलब किया था। चीन के साथ फ्रांस के बढ़ते तनाव के बीच राष्ट्रपति इमैन्युअल मैक्रों ने चीन की पारदर्शिता पर सवाल उठाया है।


508 मिलियन डॉलर की आपात मदद

नई दिल्ली/ वाशिंगटन। कोविड 19 से लड़ाई में अमेरिका ने दुनिया भर के तमाम देशों को बड़ी आर्थिक मदद का एलान किया है। अमेरिकी स्टेट डिपार्टमेंट और यूएस एजेंसी फॉर इंटरनेशनल डेवलपमेंट/यूएस ऐड ने 508 मिलियन अमेरिकी डॉलर की इमरजेंसी मदद का एलान किया है।


हालांकि इसमें चौंकाने वाली बात ये है कि अमेरिका ने भारत से बड़ी आर्थिक मदद पाकिस्तान को दी है। अमेरिकी एलान के मुताबिक कोरोना वायरस से लड़ाई के लिये भारत को 5.9 मिलियन अमेरिकी डॉलर कि मदद का एलान किया गया है तो वही पाकिस्तान इससे तकरीबन दोगुना 9.4 मिलियन अमेरिकी आर्थिक मदद का एलान किया गया है।


अमेरिका में मृतकों की संख्या-33268

वाशिंगटन। अमेरिका में इस वक्त कोविड-19 संक्रमण के चलते हजारों नागरिकों को खोता जा रहा है। पिछले 24 घंटों में पहली बार देश में मृतकों का आंकड़ा 4,500 के पार हो गया, जबकि अब तक कुल 33,268 लोग इस संक्रमण से जान गंवा चुके हैं। यानी दुनिया में हुई कुल मौतों में से 24 फीसदी मौतें अकेले अमेरिका में हो चुकी हैं।


हालांकि राष्ट्रपति ट्रंप का दावा है कि महामारी का सबसे बुरा दौर बीत चुका है लेकिन जॉन्स हॉपकिंस यूनिवर्सिटी के आंकड़े इसकी पुष्टि करते नहीं दिखाई दे रहे हैं। अभी तक दुनिया में अमेरिका के भीतर संक्रमण के सबसे ज्यादा मामले उजागर होने पर ट्रंप ने देश में होने वाले सर्वाधिक परीक्षणों का हवाला दिया था, लेकिन तेजी से बढ़ रही मौतों पर उन्होंने कोई टिप्पणी नहीं की है। बता दें कि पूरी दुनिया में शुक्रवार तक कुल 21,58,076 लोग इस वायरस से संक्रमित हो चुके हैं जबकि 1,50,000 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं। अमेरिका में अब तक कुल 6,71,151 लोग कोरोना संक्रमित पाए गए हैं जबकि मात्र पिछले 24 घंटे में 4,591 मौतों के साथ अब तक कुल मृतकों का आंकड़ा 33,000 पार कर गया है। मौतों का आंकड़ा तब है जब ट्रंप के मुताबिक अमेरिका पूरी दुनिया में सबसे तेज व सटीक जांच प्रणाली विकसित कर चुका है।


मोदी ने फ्रांस राष्ट्रपति से फोन पर की चर्चा

नई दिल्ली/ पेरिस। कोरोना महामारी ने फिलहाल पूरी दुनिया को अपनी चपेट में ले लिया है। इसी बीच लगभग सभी देश एक दूसरे को सहयोग करने के लिए तैयार हैं। वहीं, 31 मार्च को फ्रांस के राष्ट्रपति मैक्रोन और पीएम मोदी ने एक लंबी टेलीफोनिक बैठक की। उन्होंने सहयोग के क्षेत्रों को तय किया, सर्वोत्तम प्रथाओं पर चर्चा की, नवीनतम जानकारी साझा की, विशेष रूप से एक वैक्सीन पर शोध पर, और उनकी अंतरराष्ट्रीय पहलों का समन्वय किया। भारत के लिए फ्रांस के राजदूत इमैनुअल लेनिन ने जानकारी देते हुए या बताया कि भारत आने वाले फ्रांसीसी नागरिकों को वापस उनके देश भेजने पर भी चर्चा की गई। अंतर्राष्ट्रीय उड़ानों के निलंबन के बाद से, 2,200 से अधिक यात्री इस प्रकार फ्रांस लौटने में सक्षम हो गए हैं।


जानकारी के लिए बता दें कि शुक्रवार को जब चीन ने अपने मौतों के आंकड़ें में फेल बदल कर इसे बढ़ाया तो फ्रांस के राष्ट्रपति ने कोरोना वायरस से निपटने में चीन के प्रयासों पर फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने भी सवाल उठाए थे। ब्रिटिश अखबार फाइनेंशियल टाइम्स को दिए इंटरव्यू में उन्होंने कहा कि कुछ ऐसी चीजें घटित हुई हैं जिनके बारे में हमें पता नहीं है। इस बीच, कोरोना से मुकाबले के मोर्चे पर फ्रांस को कुछ अच्छे संकेत मिले हैं।


कोरोना चुनौती ही नहीं, मौका भीः राहुल

नई दिल्ली। देश भर में कोविड-19 से हाहाकार मचा हुआ है। केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय की ओर से जारी आंकड़ों के अनुसार भारत में कोरोना पॉजिटिव मामलों की कुल संख्या 14,000 के आंकड़े को पार कर गई है। कोरोना वायरस से देश और दुनिया की लड़ाई के बीच कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा है कि कोरोना वायरस महामारी ने भारत को एक मौका दिया है कि वह अपने विशेषज्ञों की मदद इनोवेशन के जरिए इस महामारी का हल ढूंढ़े।राहुल गांधी ने ट्वीट करते हुए लिखा है, 'कोविड-19 महामारी एक बड़ी चुनौती तो है ही, लेकिन यह एक मौका भी है। इस समय जरूरत है कि हम अपने वैज्ञानिकों, इंजीनियर्स और डेटा एक्सपर्ट्स को इनोवेटिव तरीकों से काम कर के इस महामारी का हल ढूंढने के लिए अवसर दें।'


व्यापारियों को खत्म करने की साजिश

नई दिल्ली। लॉकडाउन में ऑनलाइन कारोबार की अनुमति देना छोटे व्यापारियों को खत्म करने की साजिश है। यह बर्दाश्त बाहर है। इसे लेकर देश भर में असहयोग आंदोलन किया जाएगा। यह कहना है कॉनफेडरेशन ऑफ आल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) का। कैट के राष्ट्री उपाध्यक्ष अमर परवानी ने कहा कि सरकार ने 20 अप्रैल के बाद ऑनलाइन और ई-कॉमर्स कंपनियों को अपने उत्पाद बेचने की छूट दे दी है, वहीं व्यापारियों को सिर्फ आवश्यक वस्तुओं की दुकान खोलने की छूट दी है। उन्होंने कहा कि ई-कॉमर्स कंपनियां इलेक्ट्रॉनिक सामान, मोबाइल यह सब बेच सकती है। यह बहुत ही भेदभाव पूर्ण रवैया है। व्यापारियों को बांध के रखा गया है और ई कॉमर्स को खुली छूट देना देश के 7 करोड़ और राज्य के 6 लाख कारोबारियों के साथ अन्याय है। सरकार के इस फैसले को लेकर देशभर के व्यापारियों में बहुत जबरदस्त आक्रोश है। आज देशभर के व्यापारी नेताओं के बीच में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग की गई। एक बात सामने आ रही है कि अगर सरकार ने व्यापारी हित में निर्णय नहीं लिया तो हम महात्मा गांधी की तर्ज पर असहयोग आंदोलन करने पर मजबूर होंगे। महात्मा गांधी ने विदेशी व्यापार के देश में अनुचित तरीके से कब्जे के खिलाफ आंदोलन का बिगुल फूंका था, वहीं अब कैट के नेतृत्व में देशभर के व्यापारी असहयोग आंदोलन करेंगे. कैट ने इस मामले में देशभर के व्यापारी संगठनों से राय आमंत्रित किया है।


उन्होंने कहा कि कैट ने सरकार के हर मुद्दों पर सकारात्मक रूख दिखाते हुए सोशल डिस्टेसिंग और अन्य फैसलों का समर्थन किया है। व्यापारियों ने इस महामारी में जान जोखिम में डालते हुए लोगों को आवश्यक व जरूरत के सामान उपलब्ध करवाने के लिए अभूतपूर्ण भूमिका निभाई। अब जब व्यापारियों की हितों की बात होनी चाहिए तब सरकार ने पक्षपात पूर्ण रवैये अपनाते हुए ऑनलाइन और ई-कॉमर्स की बड़ी कंपनियों को छूट दे दी। जबकि यह बात सरकार जानती है कि ऑनलाइन कंपनियों से राजस्व का बड़ा नुकसान हो रहा है। दुकानें खुलने पर ही सरकार को वास्तविक जीएसटी और राजस्व की प्राप्ति होगी, वहीं इससे व्यापारी इस चुनौतीपूर्ण विपदा से लड़ते हुए अपनी आर्थिक हालत भी सुधार सकते हैं। ऑनलाइन और ई-कॉमर्स व्यवसाय में उत्पादों की कोई मॉनिटरिंग नहीं की जा सकती है, वहीं इसे वायरस के फैलने का भी खतरा रहेगा। हमारी मांग यह है कि यदि ऑनलाइन और ई-कॉमर्स को 20 अप्रैल के बाद अपने उत्पाद बेचने का मौका मिलता है तो देशभर के रिटेल और होलसेल दुकानों को भी यह छूट मिलनी चाहिए। दुकानों में सोशल डिस्टेसिंग के लिए व्यापारी अपनी जिम्मेदारी निभाएंगे। केंद्र सरकार को इस निर्णय पर पुर्नविचार करना चाहिए, वहीं राज्य सरकारों से भी अपील है कि वे ऑनलाइन कंपनियों और ई-कामर्स कंपनियों के पक्ष में दिए गए फैसले पर एकबारगी फिर से विचार करें, ताकि छोटे दुकानदारों को इस आपदा से बाहर निकाला जा सके। CAIT ने केंद्र सरकार से यह मांग करती है की जो मल्टीनेशनल कम्पनी पीछे दरवाज़े से एंट्री दे रही है उसका पूरे प्रदेश और देश के व्यापारी विरोध करते है। और यदि चोर दरवाज़ा बंद न हुआ तो मजबूरी में व्यापारी पूरे देश में असहयोग आंदोलन करेंगे ।


महामारीः भारत ने जड़ से खत्म किया

कोरोना वायरस महामारी का सामना जिस तरह से भारत कर रहा है, दुनिया के कई देश उससे सबक ले रहे हैं। वर्ल्‍ड हेल्‍थ ऑगनाइजेशन (WHO) भी भारत के प्रयासों की तारीफ करता है। WHO के कार्यकारी निदेशक डॉ. माइकल रेयान कहते हैं कि ‘भारत ने दो गंभीर बीमारियों, चेचक और पोलियो से लड़ने में भी दुनिया को राह दिखाई थी।’ आजादी के बाद, भारत में महामारियां फैलने का बड़ा खतरा था और कई महामारियों ने उसे अपना शिकार बनाया भी। मगर देश ने उनका डटकर सामना किया, मुहिम शुरू की और महामारियों के खिलाफ जीत दर्ज की।


भारत को जब आजादी मिली, तब चेचक के सबसे ज्‍यादा मामले थे। 1948 में मद्रास (चेन्‍नई) के किंग्‍स इंस्‍टीट्यूट में BCG टीका बनाने के लिए लैब शुरू की। अगले साल तक स्‍कूल लेवल पर BCG टीकाकरण की शुरुआत हुई। भारत ने 1962 में राष्ट्रीय चेचक उन्मूलन कार्यक्रम शुरू किया। लक्ष्‍य था तीन सालों में पूरी आबादी को चेचक के टीके लगााना। मामलों को ट्रेस करने और वैक्‍सीनेशन में तेजी दिखाई गई मगर मामले सामने आते रहे। 1975 वो साल था जब भरत में चेचक का आखिरी मामला मिला। 1977 में भारत चेचक मुक्‍त घोषित हो गया। यानी चेचक को हराने में हमें तीन दशक से ज्‍यादा का वक्‍त लगा।


प्‍लेग चूहों के जरिए फैलता है। यह सबसे पुरानी बीमारियों में से एक है। भारत में प्लेग की एंट्री पोर्ट सिटी हांगकांग के जरिए ब्रिटिश इंडिया में हुई थी। प्लेग से चीन और भारत में मिलाकर सवा करोड़ से ज्यादा लोगों की जान चली गई थी। प्लेग से चीन और भारत में मिलाकर सवा करोड़ से ज्यादा लोगों की जान चली गई थी। एक सरकारी रिपोर्ट के अनुसार 1994 में देश को प्लेग महामारी से 1800 करोड़ का नुकसान हुआ।एक सरकारी रिपोर्ट के अनुसार 1994 में देश को प्लेग महामारी से 1800 करोड़ का नुकसान हुआ। आखिरकार आइसोलेशन और बचाव की कोशिशों के बाद भारत इसपर काबू पाने में सफल हुआ।


ब्रिटिश राज से लेकर आधुनिक भारत तक, हैजा वो महामारी है जो बार-बार देश में फैलती रही है। पहली बार यह कलकत्‍ता में 1817 से 1824 के बीच फैली। इस दौरान, हजारों-हजार भारतीय मारे गए। फिर 20वीं सदी में एक बार फिर हैजा फैला। इसने भारत में 8 लाख से ज्‍यादा लोगों की जान ले ली। 1960 के दशक में एक बार हैजा की एंट्री हुई। 90 के दशक में तमिलनाडु से कुछ मामले सामने आए। भारत में आखिरी बार 2007 में ओडिशा से हैजा के मामले सामने आए थे।पोलियो वो बीमारी थी जिसने पूरी दुनिया के बच्‍चों को एक वक्‍त विकलांगता के खतरे में डाल दिया था।


भारत में पोलियो संक्रमण चरम पर था। 1970 में भारत ने ओरल पोलियो वैक्‍सीन बनाई। राज्‍यों में पोलियो ड्रॉप पिलाने का अभियान शुरू किया गया। 1995 आते-आते यह मुहिम पूरे देश में लागू कर दी गई। पहले तीन साल तक की उम्र वाले बच्‍चों को ड्रॉप पिलाई जाती थी, बाद में यह समयसीमा पांच साल कर दी गई। देश में 6.4 लाख पोलियो बूथ बनाए गए थे। उस अभियान में करीब 23 लाख लोग काम कर रहे थे। इक्‍कीसवीं शताब्‍दी शुरू होते भारत ने पोलियो के खिलाफ जंग जीतनी शुरू कर दी थी। साल 2014 में WHO ने भारत को पोलियो मुक्‍त घोषित किया। भारत में इसका आखिरी मामला 2011 में सामने आया था।


मलेरिया मादा एनाफिलीज मच्‍छर से फैलता है। ये वायरस लीवर को बुरी तरह प्रभावित करता है। WHO के अनुसार, भारत में हर साल दो लाख से ज्‍यादा लोग इस बीमारी के चलते दम तोड़ देते हैं। लंबे समय से यह माना जाता रहा है कि मलेरिया का खात्मा एक सपने की तरह है, मगर अब इस दिशा में रिसर्च बताती है कि इसका खात्‍मा किया जा सकता है। मलेरिया की मौजूदा दवाएं सिर्फ बुखार तक सीमित हैं इसलिए सिर्फ वैक्‍सीन ही इससे बचने का विकल्‍प है। भारत के अलावा कई देशों से मलेरिया की वैक्‍सीन बना ली है और उसपर ट्रायल चल रहे हैं।


अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कोरोना की जांच

नई दिल्ली/न्यूयॉर्क/लंदन। कोरोना से चीन ने मौतों का आंकड़ा अचानक बढ़ाया तो उसे संदेह की नजर से देख रही दुनिया को विश्वास हो गया कि उसने इसमें भी खेल किया है। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप पहले ही इस मामले में चीन पर दोहरी चाल चलने का आरोप लगाते रहे हैं। अब ब्रिटेन और फ्रांस ने भी आंखें तरेरी है।


ब्रिटेन के विदेश सचिव डॉमनिक रॉब ने कहा है कि कोरोना की त्रासदी का असर ब्रिटेन और चीन के संबंधों पर पड़ेगा। उन्होंने कहा, संकट से उबरने के बाद चीन के साथ व्यापार सामान्य नहीं होगा। इधर, फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने भी चीन की पैंतरेबाजी पर सवाल उठाते हुए कहा कि यह मानना बेवकूफी होगी कि चीन ने बेहतर ढंग से इस माहामारी का सामना किया। सच यह है कि बहुत सी बातें ऐसी हैं जिनके बारे में किसी को कुछ नहीं पता है।


महामारी कैसे फैली ये पता कराएंगे : रॉब
ब्रिटेन के विदेश सचिव डॉमनिक रॉब ने तल्ख तेवर में कहा, विश्व स्वास्थ्य संगठन और अंतरराष्ट्रीय संगठनों के साथ मिलकर ये पता किया जाएगा कि महामारी फैली कैसे। वहीं, ब्रिटेन के कंजर्वेटिव पार्टी के पूर्व नेता विलियम हेग ने कहा, 5जी नेटवर्क में चीन की कंपनी हुवावे की मौजूदगी पर सख्ती भरा कदम उठाना होगा ताकि हमारी उसपर निर्भरता नहीं रहे।


फ्रांस में चीन के राजदूत तलब
फ्रांस में चीन के राजदूत को पेरिस तलब किया गया। दूतावास की वेबसाइट पर एक प्रकाशित लेख को लेकर नाराजगी जताई गई जिसमें लिखा गया था कि यूरोप में बुजुर्गों को केयर होम में मरने के लिए छोड़ दिया गया है। राजदूत ने गलती से लेख प्रकाशित होने की बात कहकर अपनी जान बचाई।


अमेरिका के सीनेटर बोले चीन के खिलाफ हो जांच
सीनेटरों के एक समूह ने ट्रंप से कहा कि वह कोविड-19 को लेकर चीन द्वारा विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के कथित दुरुपयोग के संबंध में अंतरराष्ट्रीय जांच कराएं। साथ ही इस बीमारी के मूल स्रोत और संकट के संबंध में पारदर्शी एवं स्वतंत्र जांच करने के लिए अमेरिकी सहयोगियों के साथ मिलकर काम करें। पत्र में लिखा है हम आपसे कोविड-19 से निपटने के अंतरराष्ट्रीय प्रयासों के नेतृत्व के लिए एक उच्चस्तरीय दूत को नियुक्त करने की भी अपील करते हैं।


चीन ने दी सफाई...जानकारी अधूरी थी कई जगह दोहराव
चीन सरकार ने आंकड़ों के गलत होने के चार कारण बताए हैं। पहला, कोरोना महामारी के शुरुआती दिनों में मरीजों की बढ़ती संख्या मेडिकल क्षमता को प्रभावित किया और अस्पतालों के बजाय कुछ मरीजों ने घर पर ही दम तोड़ दिया। दूसरी, अस्पताल क्षमता से अधिक काम कर रहे थे और रोगियों को बचाने के चक्कर में भ्रामक रिपोर्टिंग हुई।


तीसरे, कई अस्पताल महामारी सूचना नेटवर्क के साथ सही से नहीं जुड़ पाए और सही डाटा नहीं भर पाए। चौथे, मृतकों में से कुछ की पंजीकृत जानकारी अधूरी थी और रिपोर्टिंग में दोहराव और गलतियां थीं।


ड्रैगन पर आफत… अर्थव्यवस्था में 40 वर्षों की बड़ी गिरावट, पहली तिमाही में 6.8 फीसदी लुढ़की जीडीपी
कोरोना के कहर के बीच जिस देश से इस महामारी की शुरुआत हुई वहां 1970 के बाद आर्थिक स्तर पर बड़ी गिरावट दर्ज की गई है। चीन की जीडीपी 1976 की विनाशकारी सांस्कृतिक क्रांति के बाद से अब तक की सबसे बड़ी गिरावट के साथ 2020 की पहली तिमाही में 6.8 फीसदी दर्ज हुई है।


राष्ट्रीय सांख्यिकी ब्यूरो ने कहा, 2020 में जनवरी से मार्च के बीच चीन का सकल घरेलू उत्पाद 20,650 अरब युआन (लगभग 2910 अरब डॉलर) रहा, जो पिछले साल इसी अवधि के मुकाबले 6.8 फीसदी गिरावट दर्शाता है। तिमाही के प्रारंभिक दो महीनों में 20.5 फीसदी की कमी आई।


प्रीपेड वैलिडिटी एक्सटेंड की घोषणा

नई दिल्ली। टेलीकॉम ऑपरेटर्स भारती एयरटेल और वोडाफोन आइडिया ने 3 मई तक प्रीपेड अकाउंट वैलिडिटी को एक्सटेंड करने की घोषणा की है। पहले एयरटेल और वोडाफोन आइडिया दोनों ने ही ग्राहकों की अकाउंट वैलिडिटी को 17 अप्रैल तक बढ़ाया था और 10 रुपये का टॉक टाइम भी ऑफर किया था। अब लॉकडाउन की अवधि बढऩे के बाद दोनों कंपनियों ने फिर से मुफ्त में प्रीपेड यूजर्स के अकाउंट वैलिडिटी को 3 मई तक बढ़ा दिया है। एक तरफ जहां वोडाफोन आइडिया ने कहा है कि इस कदम से 90 मिलियन लो-इनकम फीचर फोन यूजर्स को फायदा मिलेगा, तो वहीं दूसरी तरफ एयरटेल ने कहा है कि लो-इनकम कस्टमर्स के अकाउंट की वैलिडिटी को बढ़ा रहा है।


आपको बता दें इन दोनों कंपनियों की एक मिनिमम रिचार्ज पॉलिसी है, जिसके तहत किसी भी यूजर का मौजूदा प्लान एक्सपायर होने के बाद उसे सात दिनों बाद इनकमिंग कॉल्स आने बंद हो जाते हैं। अब एक नई प्रेस रिलीज में एयरटेल ने कहा है कि ऐसे लगभग 30 मिलियन ग्राहक जो लॉकडाउन के दौरान अपना मोबाइल नंबर रिचार्ज कराने में असमर्थ हैं, उनकी मदद करने के लिए कंपनी ने प्रीपेड अकाउंट वैलिडिटी को 3 मई 2020 तक आगे बढ़ाने का फैसला किया है।


सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

सावधानी बरतें, सतर्क रहें।


कट्टरपंथ से उत्पन्न चुनौती को अधिक स्पष्ट किया

अकांशु उपाध्याय     नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) शिखर सम्मेलन को शुक्रवार को ऑनलाइन संबोधित करते हुए कह...