बुधवार, 30 नवंबर 2022

धरसीवां के तत्वाधान में शिविर का आयोजन 

धरसीवां के तत्वाधान में शिविर का आयोजन 


विधायक अनिता योगेंद्र शर्मा ने महिलाओं को विभिन्न योजनाओं की जानकारी देकर उन्हें योजनाओं का लाभ उठाने के लिए प्रेरित किया 

विधायक अनिता योगेन्द्र शर्मा ने महिलाओं का सम्मान कर सुपोषण किट का वितरण किया

महिला जागृति शिविर संपन्न

दुष्यंत टीकम 

रायपुर। परियोजना स्तरीय धरसीवां के तत्वाधान में महिला जागृति शिविर का आयोजन प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र सिलतरा में संपन्न हुआ। इस दौरान विधायक अनिता योगेन्द्र शर्मा के द्वारा गर्भवती माताओं की गोद भराई व छह माह पूर्ण किए बच्चों का अन्नप्राशन की रस्म अदा की गई। साथ ही बच्चों और गर्भवती माताओं को सुपोषण किट वितरण किया गया। सुपोषण किट में मूंग, फूटा चना, मूंगफली, गुड, अनार,सेव आदि पौष्टिक सामग्री सम्मिलित की गई थी।

इस अवसर में अतिथियों ने स्थानीय व्यंजन प्रदर्शनी का निरीक्षण कर प्रथम, द्वितीय आने वाले प्रतिभागियों को इनाम वितरण किए। महिलाओं को छह साल तक के बच्चों की उचित देखभाल, संतुलित आहार, पोषण जागरूकता, बाल विवाह, बाल मजदूरी महिला जागृति शिविर के आयोजन करने के उद्देश्य को परियोजना अधिकारी जितेंद्र साव ने विस्तार से समझाया। आदि विषयों के संबंध में जानकारी दी।

साथ ही सांस्कृतिक कार्यक्रम का भी आयोजन किया गया जिसमें विद्यालयिन छात्राओं ने सांस्कृतिक कार्यक्रम की प्रस्तुति दी। इस अवसर विधायक अनिता योगेंद्र शर्मा ने महिलाओं को विभिन्न योजनाओं की जानकारी देकर उन्हें योजनाओं का लाभ उठाने के लिए प्रेरित किया और और कहां प्रदेश सरकार लगातार जनहित में विभिन्न योजनाओं के माध्यम से आमजन तक पहुंच रही है। लगातार प्रदेश सरकार सुपोषण अभियान तहत औसत दर कम हो रही हैं।

आज कार्यक्रम में मुख्य रूप से जिला पंचायत सदस्य हरिशंकर निषाद, सभापति चंद्रिका चंदन बांधे, जनपद सदस्य गुरदेव मैरिशा, ब्लाक कांग्रेस अध्यक्ष दुर्गेश वर्मा, महिला ब्लाक अध्यक्ष मंजू वर्मा, पूर्व जनपद अध्यक्ष लोकेश्वरी वर्मा, ग्राम पंचायत सरपंच रामकुमार वर्मा, रोशन पुरी गोस्वामी, दीपक वर्मा, जिला कार्यक्रम अधिकारी निशा मिश्रा, परियोजना अधिकारी जितेन्द साव और विभाग के अन्य कर्मचारी सहित भारी संख्या में आगनवाड़ी कार्यकर्ता सहायिका सहित अन्य लोग मौजूद रहे।

शामली: इलैक्ट्रोनिक्स मीडिया सेंटर का गठन, बैठक 

शामली: इलैक्ट्रोनिक्स मीडिया सेंटर का गठन, बैठक 


कैराना में इलैक्ट्रोनिक्स मीडिया सैन्टर का हुआ गठन

हिमांशी अग्रवाल चुनी गई अध्यक्ष

भानु प्रताप उपाध्याय 

शामली। कैराना स्थित कस्बे के इलैक्ट्रोनिक्स मीडिया के पत्रकारो को एक मंच पर लाने के लिए इलैक्ट्रोनिक्स मीडिया सेंटर का गठन किया गया। बुधवार को कस्बें के निर्मल चौराहा स्थित हिमांशी अग्रवाल के आवास पर पत्रकारों की एक मीटिंग का आयोजन किया गया। मीटिंग मे सर्वसम्मति से इलैक्ट्रोनिक्स मीडिया सेंटर का गठन किया गया। अध्यक्ष पद पर हिमांशी अग्रवाल, संरक्षक डॉ. अजमत, उपाध्यक्ष फरमान अली, महासचिव हारून मलिक, सचिव नदीम चौधरी, कोषाध्यक्ष शाहनवाज मलिक, आडिटर गुलवेज आलम नियुक्त किये गये। इस दौरान अध्यक्ष हिमांशी अग्रवाल को गुलदस्ता भेट किया गया। वही, सभी पदाधिकारियो का फूल मालाओ से जोरदार स्वागत कर बधाई दी गई।

वही अध्यक्ष हिमांशी अग्रवाल ने जानकारी देते हुये कहा कि इलैक्ट्रोनिक्स मीडिया सैन्टर का गठन इलैक्ट्रोनिक्स मीडिया के पत्रकारो को एक मंच पर लाने के लिये किया गया है।  इसी दौरान उन्होने कहा कि पत्रकारों का उत्पीडन कतई बर्दाश्त नही किया जाएगा। वही संरक्षक अजमत ने कहां पत्रकारिता एक ऐसा प्लेटफार्म है। जो जनता की आवाज उठाता है और गरीब मजबूरो को हक दिलाने का कार्य करता है। इस मौके पर सुएब खान, सगीर अंसारी पुनीत गोयल, शिवम गोयल, अलताफ चौधरी आदि पत्रकारगण मौजूद रहे।

फिकल स्लज ट्रीटमेंट प्लांट लगाया, उद्घाटन: परिषद 

फिकल स्लज ट्रीटमेंट प्लांट लगाया, उद्घाटन: परिषद 

भानु प्रताप उपाध्याय 

शामली। नगर पालिका परिषद शामली द्वारा गांव लिलोन में फिकल स्लज ट्रीटमेंट प्लांट लगाया गया। जिसका उद्घाटन (अपर निदेशक नगरीय निकाय लखनऊ) ने किया। मुख्य अतिथि के रुप में पधारे डॉ. असलम अंसारी (अपर निदेशक नगरीय निकाय लखनऊ) ने नगर पालिका परिषद शामली द्वारा 5 करोड़ 21 लाख की लागत द्वारा लगाए गए फिकल स्लज ट्रीटमेंट प्लांट का उद्घाटन करते हुए कहा फ्लैश टैंक जो गंदगी है। उसे इकट्ठा करके प्लांट द्वारा खाद बनाया जाएगा जो खेत के लिए बहुत उपयोगी होगा और गंदगी भी समाप्त होगी और वातावरण भी शुद्ध रहेगा। उन्होंने कहा नगर पालिका द्वारा यह सराहनीय कदम है।

इस अवसर पर मुख्य अतिथि के रुप में पधारे डॉ. असलम अंसारी (अपार निदेशक नगरीय निकाय लखनऊ) को सुरेंद्र सिंह (अधिशासी अधिकारी) प्रशासक नगर पालिका परिषद शामली ने फूलों का बुक्का देकर सम्मानित किया। इस अवसर पर नगर पालिका परिषद शामली प्रशासक सुरेंद्र सिंह (अधिशासी अधिकारी), व नगर पालिका परिषद शामली के अधिकारी गण अन्य कर्मचारी गण व जल निगम के प्रशासक अधिकारी मौजूद थे। 

जिलाध्यक्ष विभवनाथ का 50वां जन्मदिवस मनाया

जिलाध्यक्ष विभवनाथ का 50वां जन्मदिवस मनाया


भाजपा यमुनापार प्रयागराज जिलाध्यक्ष का 50वां जन्मदिवस मनाया गया, पार्टी के कार्यकर्ताओ में हर्षोल्लास का माहौल रहा

बृजेश केसरवानी 

प्रयागराज। भारतीय जनता पार्टी यमुनापार के जिलाध्यक्ष विभवनाथ भारती का 50वां जन्मदिवस बुधवार को मनाया गया। इस उपलक्ष्य में जिला कार्यालय सिविल लाइंस में भव्य आयोजन किया गया। दोपहर 12 बजे अनूसूचित मोर्चा जिलाध्यक्ष राजमणि पासवान एवं कार्यकर्ताओं द्वारा सुंदरकाड पाठ, हवन पूजन भी कराया गया। उसके बाद सामूहिक रूप से कार्यकर्ता 50 किलो का केक काटे। इस आयोजन में संगठन के सभी पदाधिकारी व कार्यकर्ता शामिल हुए। विभिन्न मोर्चो, प्रकोष्ठ, विभाग के लोग भी शामिल रहे। जिला मीडिया प्रभारी दिलीप कुमार चतुर्वेदी ने बताया कि मंगलवार शाम से ही लोगों के बधाई देने का क्रम शुरू हो गया।

सभी कार्यकर्ताओं ने संकल्प लिया है कि वे सक्रियता बढ़ाएंगे और नगर पंचायत के होने वाले चुनाव में भी पार्टी की शाख को बढ़ाएंगे।जिला के सभी कार्यकर्त्ता मौजूद रहे यमुनापार करछना के विधायक पियूष रंजन निषाद भी जिलाध्यक्ष को जन्मदिवस की बधाई दी, विभव नाथ भारती जी ने कहा की यदि पार्टी उन्हें कोई संवैधानिक पद देती है या मौका देती है तो वो निरंतर इस तरह से जनता की सेवा करते रहेंगे पूरा यमुना पार ही नहीं बल्कि महानगर के पदाधिकारी और गंगापार के पदाधिकारी वा जिलाध्यक्ष आदि मौजूद रहे, कार्यक्रम में सविता त्रिपाठी, अलोक पटेल, सूर्या  यादव, मनोज पासी, धीरेन्द्र यादव, सतीश विश्वकर्मा, मनोज गुप्ता आदि लोग मौजूद रहे।

'अल्जाइमर' की दवाई बनाने में महत्वपूर्ण कामयाबी

'अल्जाइमर' की दवाई बनाने में महत्वपूर्ण कामयाबी

अखिलेश पांडेय 

लंदन। ब्रिटेन के अल्जाइमर रिसर्च के एक हालिया शोध को अल्जाइमर की प्रभावी दवाई बनाने की दिशा में मिली अभी तक की सबसे महत्वपूर्ण कामयाबी के रूप में देखा जा रहा है। बीबीसी की रिपोर्ट के अनुसार इस शोध से दिमाग की इस लाइलाज बीमारी से लोगों को बचाने के लिए अभी तक के हुए शोधों की नाकामयाबी के बीच उम्मीद की एक किरण नजर आयी है।

अभी तक इस बीमारी में दी जाने वाली दवाई “ लैकानेमैब ” का मरीजों के मानसिक स्वास्थ्य पर थोड़ा बहुत ही असर नजर आता था। इसके अलावा बीमारी के शुरूआती दौर में ही यह दवाई मरीजों के लिए कुछ फायदेमंद नजर आती है।नवीनतम शोध के बाद आयी दवाई अल्ज़ाइमर की बीमारी की चपेट में आने वाले मरीज के दिमाग में बनने वाले बीटा एमीलॉयड पर हमला करती है। अभी तक इस मामले में चिकित्सा क्षेत्र में पर्याप्त निराशा रही है और इस नयी उम्मीद की किरण को एक प्रभावीशाली टर्निंग पॉइंट के रूप में देखा जा रहा है।

प्रो़ जॉन हार्डी ने कहा कि इस बीमारी से निपटने को एमीलॉयड को निशाना बनाये जाने का यह आइडिया 30 साल पहले के दुनिया के जाने माने शोधकर्ताओं का है। यह ऐतिहासिक और बेहद सकारात्मक शोध है, जिसे अल्ज़ाइमर से निपटने की शुरू आत के रूप में देखा जा रहा है। एडिनबर्ग यूनीवर्सिटी की प्रो़ तारा स्पाईर्स जोंस ने कहा,“ यह परिणाम बेहद महत्वपूर्ण हैं। क्योंकि काफी समय से हम पूरी तरह से असफल हो रहे हैं। अभी तक अलजाइमर के मरीजों को हम केवल वे दवाइयां दे रहे हैं। जिनसे उनके दिखायी दे रहे लक्षणों को मैनेज करने में मदद मिले। लेकिन हकीकत में बीमारी पर इससे कोई प्रभाव या बदलाव नहीं हो रहा।”

63 हजार अंक के उच्चतम शिखर पर पहुंचा 'सेंसेक्स'

63 हजार अंक के उच्चतम शिखर पर पहुंचा 'सेंसेक्स'

कविता गर्ग 

मुंबई। अमेरिकी फेड रिजर्व के अध्यक्ष जेरोम पॉवेल के होने वाले वक्तव्य में अर्थव्यवस्था को लेकर शुभ संकेत मिलने की उम्मीद में वैश्विक बाजार में आई तेजी से उत्साहित निवेशकों की अंतिम समय में हुई चौतरफा लिवाली की बदौलत सेंसेक्स बुधवार को पहली बार 63 हजार अंक के उच्चतम शिखर पर पहुंच गया। बीएसई का तीस शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 417.81 अंक अर्थात 0.67 प्रतिशत की उड़ान भरकर पहली बार 63 हजार अंक के मनोवैज्ञानिक स्तर के पार 63099.65 अंक पर रहा। इसी तरह नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का निफ्टी 140.30 की तेजी लेकर अबतक के रिकॉर्ड 18758.35 अंक पर पहुंच गया। 

इसी तरह बीएसई की दग्गज कंपनियों की तरह मझौली और छोटी कंपनियों के प्रति भी निवेशकों की निवेश धारणा मजबूत रही। इसकी बदौलत मिडकैप 1.06 प्रतिशत मजबूत होकर 25,950.89 अंक और स्मॉलकैप 0.61 प्रतिशत की छलांग लगाकर 29,519.61 अंक पर रहा। बीएसई के सभी 19 समूह तेजी पर रहे। सर्वाधिक मुनाफा यूटिलिटीज समूह के शेयरों ने कमाया। इसी तरह पावर 2.35, कमाेडिटीज 1.62, सीडी 1.25, ऊर्जा 0.76, एफएमसीजी 0.86, वित्तीय सेवाएं 0.57, इंडस्ट्रियल्स 0.84, दूरसंचार 1.44, ऑटो 1.74, कैपिटल गुड्स 0.62, कंज्यूमर ड्यूरेबल्स 0.68, धातु 1.96, तेल एवं गैस 0.83, रियल्टी 1.54 और टेक समूह के शेयर 0.39 प्रतिशत उछल गए। 

विश्लेषकों के अनुसार, अमेरिकी केंद्रीय बैंक फेडरल रिजर्व के अध्यक्ष जेरोम पॉवले की बैंक की दिसंबर की मौद्रिक नीति समीक्षा बैठक से पहले होने वाली बैठक में अर्थव्यवस्था को लेकर शुभ संकेत दिये जाने की उम्मीद में वैश्विक बाजार में तेजी आई, जिसका असर घरेलू शेयर बाजार में देखा जा रहा है। इस दौरान ब्रिटेन का एफटीएसई 0.45, जर्मनी का डैक्स, हांगकांग का हैंगसेंग 2.16 और चीन का शंघाई कंपोजिट 0.05 प्रतिशत चढ़ गया जबकि जापान के निक्केई में 0.21 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई। 

रुपया 34 पैसे बढ़कर 81.38 प्रति डॉलर पर

विदेशी बाजारों में डॉलर के कमजोर होने और घरेलू शेयर बाजारों में तेजी के बीच निवेशकों की जोखिम लेने की धारणा में सुधार से अंतरबैंक विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार में अमेरिकी मुद्रा के मुकाबले रुपया बुधवार को 34 पैसे के सुधार के साथ 81.38 (अस्थायी) प्रति डॉलर पर बंद हुआ।

अंतरबैंक विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार में रुपया 81.63 पर खुला। कारोबार के दौरान यह 81.38 के उच्चस्तर और 81.64 के निचले स्तर तक गया। अंत में रुपया 34 पैसे की तेजी के साथ 81.38 प्रति डॉलर पर बंद हुआ। अमेरिकी मुद्रा के मुकाबले रुपये का पिछला बंद भाव 81.72 प्रति डॉलर था। एचडीएफसी सिक्योरिटीज के शोध विश्लेषक दिलीप परमार ने कहा कि जोखिम वाली आस्तियों की धारणा में सुधार, कच्चे तेल की कम कीमतें तथा विदेशी संस्थागत निवेशकों का निवेश बढ़ने के बाद पिछले 11 महीनों में भारतीय रुपये में पहली मासिक बढ़त दर्ज की गई।

परमार ने कहा कि यह महीने के अंत में 1.6 प्रतिशत ऊंचा बंद होने की ओर अग्रसर है जो अगस्त, 2021 के बाद से सबसे बड़ा लाभ होगा। इस बीच, दुनिया की छह प्रमुख मुद्राओं की तुलना में डॉलर की कमजोरी या मजबूती को दर्शाने वाला डॉलर सूचकांक 0.29 प्रतिशत की गिरावट के साथ 106.51 पर रह गया। वैश्विक तेल मानक ब्रेंट क्रूड वायदा 2.13 प्रतिशत बढ़कर 84.80 डॉलर प्रति बैरल हो गया।

दूसरी तिमाही के लिए सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी), अप्रैल-अक्टूबर के लिए राजकोषीय घाटे के आंकड़े और अक्टूबर के लिए बुनियादी उद्योगों के आंकड़े आज जारी किए जाने हैं। बीएसई का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स 417.81 अंक बढ़कर 63,099.65 अंक पर बंद हुआ। शेयर बाजार के आंकड़ों के अनुसार, विदेशी संस्थागत निवेशक (एफआईआई) पूंजी बाजार में शुद्ध लिवाल रहे और उन्होंने मंगलवार को 1,241.57 करोड़ रुपये मूल्य के शेयर ख़रीदे।

चिकित्सा संबंधी अर्जी पर 'एनआईए' का रुख

चिकित्सा संबंधी अर्जी पर 'एनआईए' का रुख

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। दिल्ली उच्च न्यायालय ने प्रतिबंधित समूह पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) के तत्कालीन अध्यक्ष ई. अबूबकर की चिकित्सा संबंधी अर्जी पर बुधवार को राष्ट्रीय अन्वेषण अभिकरण (एनआईए) का रुख जानना चाहा। अबूबकर को प्रतिबंधित संगठन के खिलाफ की गई कार्रवाई के दौरान गिरफ्तार किया गया था। न्यायमूर्ति सिद्धार्थ मृदुल और न्यायमूर्ति तलवंत सिंह की खंडपीठ ने एनआईए को स्थिति रिपोर्ट पेश करने तथा अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) की ओर से अधिकृत एक विशेषज्ञ की राय से अवगत कराने का निर्देश दिया। अबूबकर ने निचली अदालत के उस आदेश के खिलाफ उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया है जिसमें इलाज के लिए रिहा किये जाने संबंधी उसकी अर्जी खारिज कर दी गयी थी।

अदालत ने अबूबकर का यह अनुरोध ठुकरा दिया कि उसे घर में नजरबंद रखा जाना चाहिए। हालांकि इसने कहा कि आरोपी को आवश्यक इलाज उपलब्ध कराया जाएगा। खंडपीठ ने कहा, ‘‘हम ऐसा करने के पक्ष में नहीं हैं। एम्स देश का प्रमुख अस्पताल है। यदि आप इसे (इलाज के आधार को) घर में नजरबंद करने के तौर पर इस्तेमाल कर रहे हैं तो हम इसे मंजूर नहीं कर रहे हैं। हम केवल याचिकाकर्ता की स्वास्थ्य की स्थिति को लेकर चिंतित हैं।’’ अबूबकर की ओर से पेश अधिवक्ता अदित पुजारी ने खंडपीठ के समक्ष दलील दी कि उनके 70-वर्षीय मुवक्किल कैंसर तथा पार्किंसन जैसी बीमारी से पीड़ित हैं, तथा उन्हें तत्काल चिकित्सा निगरानी की आवश्यकता है, लेकिन निचली अदालत ने इस अर्जी को ठुकरा दिया है।

पुजारी ने कहा कि याचिकाकर्ता को एम्स में जांच के लिए बहुत बाद का समय दिया गया है, जबकि इसकी तत्काल आवश्यकता है। अदालत ने एम्स की ओर से जांच के लिए निर्धारित ‘तिथि’ पर नाखुशी जताते हुए कहा, ‘‘वह (याचिकाकर्ता) स्कैन के लिए 2024 तक इंतजार नहीं कर सकता। (वह जेल में है) इसका यह मतलब नहीं कि वह 2024 तक इंतजार करेगा। यह जांच है। इसके लिए निश्चित तौर पर 2024 तक इंतजार नहीं किया जा सकता।’’ अदालत ने यह भी स्पष्ट किया कि वह न तो मामले के गुण-दोष पर, न ही इस चरण में नियमित जमानत के मुद्दे पर विचार कर रही है। अदालत ने मामले की अगली सुनवाई के लिए 14 दिसम्बर की तारीख मुकर्रर की है।

पन्नू की आने वाली फिल्म 'ब्लर' का ट्रेलर रिलीज 

पन्नू की आने वाली फिल्म 'ब्लर' का ट्रेलर रिलीज 

कविता गर्ग 

मुंबई। बॉलीवुड अभिनेत्री तापसी पन्नू की आने वाली फिल्म ब्लर का ट्रेलर रिलीज हो गया है। तापसी पन्नू की फिल्म ब्लर साइकोलॉजीकल थ्रिलर फिल्म है, जिसका निर्देशन अजय बहल ने किया है। ब्लर तापसी की पहली होम प्रोडक्शन फिल्म है और इसका निर्माण उनके प्रोडक्शन हाउस आउटसाइडर्स फिल्म्स ने किया है।

तापसी पन्नू के साथ गुलशन देवैया इस फिल्म में लीड रोल में नजर आएंगे। ब्लर का ट्रेलर रिलीज हो गया है। तापसी पन्नू ने फिल्म ब्लर में ऐसी लड़की का किरदार निभा रही हैं, जो अपनी जुड़वां बहन की मौत के कारण की खोज में जुटी हुई है, लेकिन उसकी नजर धीरे-धीरे कमजोर हो रही है। फिल्म ब्लर 09 दिसम्बर को ओटीटी प्लेटफॉर्म जी5 पर स्ट्रीम की जाएगी।

राज्य के 'सम्मान और गौरव' के रूप में उभरे मोदी 

राज्य के 'सम्मान और गौरव' के रूप में उभरे मोदी 

इकबाल अंसारी 

गांधीनगर/अहमदाबाद। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने बुधवार को कहा कि महात्मा गांधी और वल्लभभाई पटेल 20वीं सदी में गुजरात के सम्मान व गौरव के प्रतीक थे और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 21वीं सदी में राज्य के 'सम्मान और गौरव' के रूप में उभरे हैं। गुजरात विधानसभा चुनाव के लिए एक दिसंबर को होने वाले पहले चरण के मतदान से पहले यहां एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए सिंह ने कहा कि कांग्रेस प्रमुख मल्लिकार्जुन खरगे की प्रधानमंत्री मोदी के खिलाफ ‘‘रावण’’ वाली टिप्पणी ‘‘पूरे कांग्रेस नेतृत्व’’ की मानसिकता को दर्शाती है। उन्होंने कहा कि गुजरात के लोग उन व्यक्तियों को करारा जवाब देंगे, जिन्होंने प्रधानमंत्री के लिए अपशब्दों का इस्तेमाल किया, जो “गुजरात का सम्मान और गौरव हैं।”

उन्होंने कहा, “महात्मा गांधी और सरदार पटेल जहां 20वीं सदी में गुजरात के सम्मान और गौरव के प्रतीक थे, वहीं हमारे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 21वीं सदी में गुजरात के सम्मान और गौरव के रूप में उभरे हैं। और आज, हमारे प्रधानमंत्री के लिए कांग्रेस द्वारा अभद्र भाषा का प्रयोग किया जा रहा है।” गुजरात की 182 विधानसभा सीटों में से 89 पर बृहस्पतिवार को पहले चरण में मतदान होगा। राजनाथ ने कहा कि अन्य विपक्षी दल भी प्रधानमंत्री के खिलाफ निराधार आरोप लगाने की कोशिश कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि किसी के लिए अपशब्दों का इस्तेमाल स्वस्थ लोकतंत्र को नहीं दर्शाता है।

गुजरात में सोमवार को एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए खरगे ने कहा कि प्रधानमंत्री सभी चुनावों में लोगों से “उनका चेहरा देखकर वोट करने” के लिए कहते हैं। खरगे ने पूछा था, ‘‘क्या आप रावण की तरह 100 सिर वाले हैं।’’ खरगे की टिप्पणी को भाजपा ने गुजरात के लोगों का अपमान करार दिया था। उन्होंने कहा, “प्रधानमंत्री के लिए कांग्रेस अध्यक्ष ने जिस तरह के शब्दों का इस्तेमाल किया है, वह सिर्फ खड़गे की नहीं बल्कि पूरे कांग्रेस नेतृत्व की मानसिकता का प्रतिबिंब है।” भाजपा नेता ने कहा कि प्रधानमंत्री का पद एक संस्था होता है।

रक्षामंत्री ने कहा, “प्रधानमंत्री का पद सिर्फ एक व्यक्ति का नहीं है, यह एक संस्था है। मुझे विश्वास है कि गुजरात के सम्मान और गौरव के प्रतीक प्रधानमंत्री के लिए अपशब्दों का इस्तेमाल करने वालों को गुजरात की जनता करारा जवाब देगी।” पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के लिए भाजपा नेताओं द्वारा 'मौनी बाबा' शब्द का इस्तेमाल किए जाने के बारे में पूछने पर सिंह ने कहा कि यह अपशब्द नहीं है। उन्होंने कहा, “मौनी बाबा गाली नहीं हैं। किसी ने 'रावण' और 'नीच' शब्दों (प्रधानमंत्री के लिए) का इस्तेमाल किया था। हम ऐसी चीजों में कभी लिप्त नहीं होते हैं।”

पर्व, उत्सव और मेलों को सदियों पुरानी परंपरा बताया

पर्व, उत्सव और मेलों को सदियों पुरानी परंपरा बताया

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भारत में पर्व, उत्सव और मेलों को सदियों पुरानी परंपरा बताया और बुधवार को कहा कि इनके जरिए ना सिर्फ संस्कृति समृद्ध होती है बल्कि स्थानीय अर्थव्यवस्था को भी बहुत ताकत मिलती है। वहीं, आयोजित ‘‘संगाई महोत्सव’’ में प्रधानमंत्री ने एक वीडियो संदेश में कहा कि मणिपुर इतने प्राकृतिक सौन्दर्य, सांस्कृतिक समृद्धि और विविधता से भरा राज्य है कि हर कोई यहां एक बार जरूर आना चाहता है। उन्होंने कहा, ‘‘जैसे अलग-अलग मणियां एक सूत्र में एक सुंदर माला बनाती हैं, मणिपुर भी वैसा ही है। इसीलिए, मणिपुर में हमें मिनी इंडिया के दर्शन होते हैं।’’

ज्ञात हो कि कोरोना महामारी के कारण पिछले दो सालों में इस महोत्सव का आयोजन नहीं हो सका था। मोदी ने कहा, ‘‘हमारे देश में पर्वों, उत्सवों और मेलों की सदियों पुरानी परंपरा है और इनके जरिए संस्कृति तो समृद्ध होती ही है, साथ ही स्थानीय अर्थव्यवस्था को भी बहुत ताकत मिलती है।’’ उन्होंने कहा कि संगाई महोत्सव जैसे आयोजन निवेशकों व उद्योगों को भी आकर्षित करते हैं।

उन्होंने उम्मीद जताई कि ये महोत्सव भविष्य में भी ऐसे ही उल्लास और राज्य के विकास का एक सशक्त माध्यम बनेगा। मोदी ने कहा कि इस बार का आयोजन पहले से और भी अधिक भव्य स्वरूप में सामने आया है जो मणिपुर के लोगों की भावना और उनके जज्बे को दिखाता है। उन्होंने कहा, ‘‘आज अमृतकाल में देश 'एक भारत, श्रेष्ठ भारत' की भावना के साथ बढ़ रहा है। ऐसे में ‘फेस्टिवल ऑफ वननेस’ की थीम पर संगाई महोत्सव का सफल आयोजन भविष्य के लिए हमें और ऊर्जा व नयी प्रेरणा देगा।’’

प्रधानमंत्री ने कहा कि संगाई, मणिपुर का राजकीय जानवर तो है साथ ही भारत की आस्था और मान्यताओं में भी इसका विशेष स्थान रहा है और इसलिए यह भारत की जैविक विविधता का जश्न मनाने का एक उत्तम महोत्सव भी है।’’ प्रकृति के साथ भारत के सांस्कृतिक और आध्यात्मिक सम्बन्धों का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि टिकाऊ जीवनशैली के लिए जरूरी सामाजिक संवेदना की प्रेरणा भी देता है।

उन्होंने कहा, ‘‘जब हम प्रकृति को जीव-जंतुओं और पेड़-पौधों को भी अपने पर्वों और उल्लासों का हिस्सा बनाते हैं, तो सह-अस्तित्व हमारे जीवन का सहज अंग बन जाता है।’’ यह महोत्सव पहले इंफाल तक ही सीमित रहता था लेकिन इस बार पूरे राज्य में इसका आयोजन किया गया है। इस पहल के लिए राज्य सरकार की सराहना करते हुए मोदी ने कहा कि जब ऐसे आयोजनों को ज्यादा से ज्यादा लोगों के साथ जोड़ा जाता है, तभी इसकी पूरा क्षमता सामने आ पाती है।

2026 से मूल्य निर्धारण की खुली छूट देने की सिफारिश 

2026 से मूल्य निर्धारण की खुली छूट देने की सिफारिश 

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। सरकार की तरफ से नियुक्त गैस कीमत समीक्षा समिति ने बुधवार को सौंपी अपनी रिपोर्ट में परंपरागत गैस क्षेत्रों के लिए एक आधार एवं अधिकतम कीमत तय करने का सुझाव देने के साथ ही जनवरी, 2026 से मूल्य निर्धारण की खुली छूट देने की सिफारिश की है। योजना आयोग के पूर्व सदस्य किरीट पारिख की अगुवाई वाली समिति की रिपोर्ट में कहा गया है कि परंपरागत क्षेत्रों से निकलने वाली गैस के लिए एक निर्धारित मूल्य दायरा रखने से गैस उत्पादकों के लिए एक अनुमान-योग्य कीमत निर्धारण व्यवस्था सुनिश्चित की जा सकेगी। समिति के मुताबिक, इस व्यवस्था से सीएनजी एवं पाइप से आपूर्ति की जाने वाली रसोई गैस पीएनबी की कीमतों को नरम करने में भी मदद मिलेगी।

उत्पादन लागत बढ़ने से इसकी कीमत पिछले साल से अबतक 70 प्रतिशत बढ़ चुकी हैं। समिति ने सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनियों द्वारा पुराने क्षेत्रों से निकाली जाने वाली प्राकृतिक गैस की कीमत को आयातित कच्चे तेल की कीमतों से जोड़ने की सिफारिश भी की है। पारिख ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय बाजार में गैस की दरों से जोड़ने के बजाय घरेलू स्तर पर उत्पादित गैस की कीमतें आयातित कच्चे तेल के भाव से जोड़ी जानी चाहिए। इसके लिए गैस का आधार एवं अधिकतम मूल्य दायरा तय किया जाए। सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनी ऑयल एंड नैचुरल गैस कॉरपोरेशन (ओएनजीसी) और ऑयल इंडिया लिमिटेड (ओआईएल) को चार डॉलर प्रति 10 लाख ब्रिटिश थर्मल यूनिट (प्रति इकाई) के न्यूनतम मूल्य और 8.57 डॉलर की मौजूदा दर के मुकाबले अब अधिकतम 6.5 डॉलर का भुगतान किया जाएगा।

पारिख ने कहा कि पुराने गैस क्षेत्रों से निकलने वाली गैस के लिए अधिकतम दर को सालाना 0.5 डॉलर प्रति इकाई बढ़ाया जाएगा। इसके साथ ही समिति ने एक जनवरी, 2027 से एपीएम गैस की कीमत बाजार से निर्धारित किए जाने का सुझाव दिया है। हालांकि, समिति मुश्किल क्षेत्रों से निकलने वाली गैस के लिए मूल्य निर्धारण के मौजूदा फॉर्मूले को बदलने के पक्ष में नहीं रही।

मूल्य निर्धारण की यह व्यवस्था रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड के केजी-डी6 क्षेत्र और ब्रिटेन की इसकी भागीदार बीपी पीएलसी के मुश्किल गैस क्षेत्रों पर लागू होती है। पारिख ने कहा, ‘‘इन गैस उत्पादकों को विपणन एवं कीमत निर्धारण की स्वतंत्रता होती है लेकिन सरकार की तरफ से तय ऊपरी सीमा से यह बाधित होती है। हम तीन वर्षों तक मौजूदा व्यवस्था जारी रखने और एक जनवरी, 2026 से इस ऊपरी सीमा को हटाकर उन्हें पूरी आजादी देने का सुझाव दिया है।’’ समिति ने प्राकृतिक गैस को माल एवं सेवा कर (जीएसटी) व्यवस्था में लाने का भी सुझाव देते हुए कहा है कि इस बारे में राज्यों की चिंताओं को देखते हुए सहमति बनाने की प्रक्रिया शुरू की जा रही है।

गैस को जीएसटी के दायरे में लाने पर राज्यों को वैट शुल्क से मिलने वाले राजस्व में कटौती की आशंका है। पारिख ने कहा कि एपीएम गैस के आवंटन में शहरी गैस वितरण को शीर्ष प्राथमिकता मिलनी जारी रहेगी। उत्पादन में गिरावट आने की स्थिति में अन्य उपभोक्ताओं को आपूर्ति में कटौती की जाएगी। पुराने गैस क्षेत्रों से निकलने वाली गैस शहरी गैस वितरकों को बेची जाती है। पारिख समिति को ‘‘भारत में गैस-आधारित अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने के लिए बाजार-उन्मुख, पारदर्शी और भरोसेमंद मूल्य निर्धारण व्यवस्था’’ सुनिश्चित करने के लिए सुझाव देने का काम सौंपा गया था। समिति को यह भी तय करना था कि अंतिम उपभोक्ता को उचित मूल्य पर गैस मिले।

पूनावाला ने पॉलीग्राफी टेस्ट में गुनाह कुबूला 

पूनावाला ने पॉलीग्राफी टेस्ट में गुनाह कुबूला 

अकाशुं उपाध्याय

नई दिल्ली। श्रद्धामर्डर केस में आरोपी आफताब अमीन पूनावाला ने पॉलीग्राफी टेस्ट में अपना गुनाह कुबूल कर लिया है। आफताब ने पॉलीग्राफी टेस्ट में माना है कि उसने ही श्रद्धा की हत्या की। पॉलीग्राफी टेस्ट में आफताब ने कबूला कि उसने सोच-समझकर श्रद्धा का कत्ल किया और इसके लिए उसे कोई अफसोस नहीं है। आफताब का पॉलीग्राफी टेस्ट करने वाले फॉरेंसिक अधिकारियों के हवाले से यह जानकारी सामने आई है।

पॉलीग्राफी टेस्ट के दौरान आफताब का व्यवहार बिल्कुल समान्य रहा। आफताब ने कहा कि उसने पहले ही पुलिस को सब कुछ बता दिया है। एक पुलिस अधिकारी के मुताबिक उसने कहा कि श्रद्धा की हत्या के आरोप में उसे फांसी भी हो जाए तो अफसोस नहीं होगा, जन्नत में जाने पर उसे हूर मिलेगी। यही नहीं उसने यह भी बताया कि श्रद्धा से रिश्ते के दौरान उसके 20 से अधिक हिंदू लड़कियों से संबंध रहे हैं। पुलिस को दिए उसके इस बयान से आफताब की कट्टर मानसिकता सामने आई है। अब एक्सपर्ट आफताब के पॉलीग्राफी टेस्ट की फाइनल रिपोर्ट बना रहे हैं, रिपोर्ट जांच अधिकारी को सौंपी जाएगी।

1 दिसंबर को होगा नार्को टेस्ट

दिल्ली की एक अदालत ने रोहिणी स्थित विधि विज्ञान प्रयोगशाला (एफएससी) में आफताब के नार्को टेस्ट को अनुमति दे दी। पूनावाला के वकील अबिनाश कुमार ने बताया कि पुलिस ने आरोपी को एक दिसंबर और पांच दिसंबर को रोहिणी स्थित प्रयोगशाला ले जाने की अनुमति दिए जाने का अनुरोध किया था, जिसे अदालत ने मंजूर कर लिया।

पूनावाला (28) पर अपनी ‘लिव-इन पार्टनर’ श्रद्धा वालकर की हत्या करने और उसके शव के 35 टुकड़े करने का आरोप है। आरोप है कि उसने शव के टुकड़ों को दक्षिण दिल्ली में महरौली के अपने घर में करीब तीन सप्ताह तक 300 लीटर के एक फ्रिज में रखा और फिर कई रातों तक उसे शहर के विभिन्न स्थानों पर फेंका।

सड़क हादसे में 6 लोगों की मौत, 13 घायल

सड़क हादसे में 6 लोगों की मौत, 13 घायल

संदीप मिश्र   

लखनऊ। लखनऊ-बहराइच हाईवे पर बुधवार को दर्दनाक हादसा हो गया है, जिसमें आज सुबह रोडवेज बस को एक ट्रक ने बगल से टक्कर  मार दी, वहीं टक्कर इतनी जोरदार थी कि 6 लोगों की मौके पर मौत हो गई। जबकि अन्य 13 यात्री घायल हो गए हैं। इनमें से चार लोगों की हालत गंभीर बताई जा रही है।

पुलिस के मुताबिक ये हादसा आज सुबह साढ़े चार बजे के करीब हुआ, जब UP- 85, AH 9044 नंबर की रोडवेज़ बस लखनऊ से बहराइच की तरफ आ रही थी, ट्रक नेबर UP-21 BN 6042 बहराइच से लखनऊ की तरफ जा रहा था। इस दौरान दोनों की जोरदार भिड़ंत हो गयी, वहीं बस में बैठे 5 यात्रियों और ट्रक ड्राइवर की मौके पर मौत हो गयी। इसके अलावा 13 यात्री घायल हो गए।

वहीं इनमें से चार लोगों की हालत गंभीर बताई जा रही है, सभी घायलों को नजदीकी अस्पताल में भर्ती कराया गया। गंभीर रूप से घायलों को लखनऊ ट्रामा सेंटर रेफर कर दिया गया। पुलिस ने बताया कि ये हादसा जरवल थाना क्षेत्र के घर्घरा घाट के समीप की है, बताया जा रहा है कि कोहरे की वजह से विजिबिलिटी काफी कम थी जिसकी वजह से ये हादसा हुआ। हादसे की सूचना पर सीओ और एसडीएम कैसरगंज मौके पर पहुंचे और राहत बचाव शुरू करवाया। हादसे का शिकार हुई बस लखनऊ से बहराइच जा रही थी।

घायलों की पहचान :-

1. शिवा, उम्र 32 वर्ष निवासी, नेपाल

2. ओम प्रकाश पुत्र नरेन्द्र कुमार, उम्र 26 वर्ष निवासी सरडीहा थाना दरगाह शरीफ, बहराइच

3. कन्हई लाल पुत्र इन्द्र प्रताप, उम्र 25 वर्ष निवासी दहसरा थाना सोनवा जनपद, श्रावस्ती

4. दुर्गा पुत्र अमला, उम्र 32 वर्ष निवासी सुखैत नेपाल

5. प्रेम पुत्र रतन सिंह, उम्र 48 वर्ष निवासी नेपाल

6. विशाल पुत्र मदन, उम्र 21 वर्ष निवासी सुखैत नेपाल

7. शकुन्तला पत्नी चन्द्र बहादुर दमई, उम्र 38 वर्ष, निवासी दैलेख देवलखाडा, नेपाल

22 करोड़ रुपये से अधिक की संपत्ति जब्त की 

22 करोड़ रुपये से अधिक की संपत्ति जब्त की 

अकाशुं उपाध्याय 

नई दिल्ली। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने कथित बीएस-4 वाहन घोटाले से जुड़े मामले में आंध्र प्रदेश में तेलुगु देशम पार्टी (तेदेपा) के पूर्व विधायक जे सी प्रभाकर रेड्डी और उनके सहयोगियों एवं कंपनियों की 22 करोड़ रुपये से अधिक की संपत्ति जब्त की है। संघीय एजेंसी ने बुधवार को एक बयान में कहा कि वह मामले में प्रमुख ऑटोमोबाइल निर्माता कंपनी अशोक लीलैंड की भूमिका की भी जांच कर रही है।

रेड्डी अभी आंध्र प्रदेश के अनंतपुर जिले की तड़ीपत्री नगरपालिका के अध्यक्ष हैं। वह तेदेपा से विधायक के तौर पर तड़ीपत्री सीट का प्रतिनिधित्व कर चुके हैं। ईडी के बयान के अनुसार, यह मामला उच्चतम न्यायालय के मार्च 2017 के एक फैसले से संबंधित है जिसके तहत शीर्ष अदालत ने आदेश दिया था कि भारत में कोई भी वाहन निर्माता या डीलर एक अप्रैल 2017 से बीएस-4 उत्सर्जन नियमों का पालन न करने वाले किसी भी वाहन की बिक्री नहीं करेगा।

इसी तारीख से ऐसे वाहनों के पंजीकरण पर भी रोक लगा दी गई थी। एजेंसी ने कहा कि रेड्डी के ‘‘नियंत्रण’’ वाली जटाधारा इंडस्ट्रीज प्राइवेट लिमिटेड (जेआईपीएल) ने उच्चतम न्यायालय के आदेश का उल्लंघन करके अशोक लीलैंड लिमिटेड से किफायती दाम पर बीएस-3 वाहन खरीदे और फर्जी बिल के जरिये इन्हें ‘‘धोखे से’’ बीएस-4 वाहन के तौर पर पंजीकृत कराया।संघीय एजेंसी ने बताया कि जांच में पाया गया कि कुछ वाहनों को नगालैंड, कर्नाटक और आंध्र प्रदेश में पंजीकृत कराया गया। ईडी ने कहा, ‘‘इन वाहनों को खरीदने/चलाने या बेचने से अर्जित आय 38.36 करोड़ रुपये पाई गई है।’’ जे सी प्रभाकर रेड्डी, उनके परिवार के सदस्य, उनके द्वारा नियंत्रित कंपनियों जैसे कि दिवाकर रोड लाइंस और जटाधारा इंडस्ट्रीज प्राइवेट लिमिटेड तथा सी गोपाल रेड्डी और उनके परिवार की 6.31 करोड़ रुपये की चल संपत्ति और 15.79 करोड़ रुपये की 68 अचल संपत्तियां धन शोधन रोकथाम कानून (पीएमएलए) के तहत जब्त की गई हैं।

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण


1. अंक-50, (वर्ष-06)

2. बृहस्पतिवार, दिसंबर 01, 2022

3. शक-1944, मार्गशीर्ष, शुक्ल-पक्ष, तिथि-अष्टमी, विक्रमी सवंत-2079‌‌।

4. सूर्योदय प्रातः 06:44, सूर्यास्त: 05:24। 

5. न्‍यूनतम तापमान- 11 डी.सै., अधिकतम- 22+ डी.सै.।

6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है। 

7.स्वामी, मुद्रक, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम व शिवांशु, (विशेष संपादक) श्रीराम व सरस्वती (सहायक संपादक) संरक्षण-अखिलेश पांडेय, ओमवीर सिंह, वीरसैन पवार, योगेश चौधरी आदि के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी।

8. संपर्क व व्यवसायिक कार्यालय- चैंबर नं. 27, प्रथम तल, रामेश्वर पार्क, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102। 

9. पंजीकृत कार्यालयः 263, सरस्वती विहार लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102

http://www.universalexpress.page/ www.universalexpress.in 

email:universalexpress.editor@gmail.com 

संपर्क सूत्र :- +919350302745--केवल व्हाट्सएप पर संपर्क करें, 9718339011 फोन करें।

(सर्वाधिकार सुरक्षित)


गणतंत्र दिवस    'संपादकीय'

गणतंत्र दिवस    'संपादकीय' 'भारत' देश है हमारा, संविधान पर विवाद नहीं। 'सभ्यता' सबसे पहले आई, ...