बुधवार, 5 जुलाई 2023

एक-एक बूंद पानी    'संपादकीय' 

एक-एक बूंद पानी    'संपादकीय'   

जिसके पांव न फटी बिवाई, 

वो क्या जाने पीर पराई ?

प्रचंड प्रत्यंचा पर आरुढ भीषण गर्मी का प्रहार जन-जन को आहत करने का कार्य कर रहा है। अत्याधुनिक समाज में समर्थवान और सुविधा भोगी वर्ग को दरकिनार कर दिया जाए तो देश की 52 प्रतिशत आबादी इस भीषण गर्मी का तरह-तरह से दंश झेल रही है और विभिन्न तरह की पीड़ा सहती है। "यह विधाता ने जनता के भाग्य में नहीं लिखा है।" यह राज्यों और राष्ट्र में सत्तारूढ़ प्रजापतियों की देन है। जो केवल और केवल किसी भी क्रिया अनुरूप अधिपत्य प्राप्त करना चाहते हैं। राज धर्म से विमुख कोई भी राजनेता जन संरक्षक कैसे हो सकता है? 

वर्तमान समय में संपूर्ण देश पेयजल की विकट समस्या से जूझ रहा है। 'विश्व स्वास्थ्य संगठन' की एक सर्वेक्षण रिपोर्ट के अनुसार देश में 14 वर्ष से कम आयु के 1000 बालक प्रत्येक घंटे में अतिसार का शिकार हो जाते हैं। अशुद्ध पेयजल से होने वाली यह बीमारी देश में प्रति घंटा 1000 बच्चों को निगल जाती है। भाजपा सरकार में कई विधायक और सांसद ऐसे हैं, जिन्होंने पेयजल को कभी गंभीरता से नहीं लिया। उत्तर प्रदेश की लोनी विधानसभा से विधायक ने तो 1 प्याऊ तक नहीं लगवाई। हालांकि ऐसे खोखले जनप्रतिनिधित्व को जनता एक सिरे से खारिज कर देती है। किंतु परिणाम स्वरूप भोली-भाली जनता को कितना बड़ा खामियाजा भुगतना पड़ता है? जो व्यक्ति अनुभव कर सकता है, वही 'एक-एक बूंद पानी' का मूल्य समझ सकता है।

2014 से मोदी नेतृत्व वाली भाजपा सरकार ने 'स्वच्छ भारत अभियान' का आगाज किया था। जिसमें भारत को 2019 तक स्वच्छ पेयजल प्रदान करने का लक्ष्य रखा गया था। परंतु राजनीतिक चिंताओं में सभी विदूषक इसमें असफल सिद्ध हुए। पेयजल की वस्तुतः परिभाषा को देश की आधे से अधिक आबादी समझती ही नहीं है। इसी कारण किसी राजनेता ने इसे चुनौतीपूर्ण विषय ही नहीं समझा। संपूर्ण भारत के 196 लाख घरों में उपयोग होने वाले पानी में फ्लोराइड और आर्सेनिक  जैसे खतरनाक रसायन मौजूद है। जो मानव जीवन को पीड़ा कारक बनाने के लिए काफी है। देश के 718 जनपदों में दो तिहाई हिस्सों में पेयजल की अत्यधिक कमी है।

रिपोर्ट के मुताबिक देश में 3 करोड़ भूजल आपूर्ति केंद्रों (बोरिंग) से ग्रामीण क्षेत्रों में 85 प्रतिशत एवं नगरीय क्षेत्रों में 48 प्रतिशत पेयजल आपूर्ति की जा रही है। कुल आबादी में 30 प्रतिशत आबादी पेयजल संकट से जूझ रही है। इस विषय पर राज्य स्तरीय एवं राष्ट्र स्तरीय कमेटियों का गठन किया जाता रहा है। परंतु इस विकराल समस्या के स्थाई समाधान की कोई योजना धरातल पर उपस्थित नहीं है। देश की जनता की आवश्यकता और अपेक्षा अनुरूप कोई कार्य नहीं किया गया है। जनता को मीठे स्वप्न दिखाने के बजाय कटु सत्य से अवगत कराना चाहिए। संभवत नागरिक स्वयं समस्या का समाधान करने का प्रयास करेगा। 

राधेश्याम  'निर्भयपुत्र'

आशिक दरोगा से महिला सिपाही परेशान: यूपी

आशिक दरोगा से महिला सिपाही परेशान: यूपी  

आदर्श श्रीवास्तव   

मुरादाबाद। उत्तर प्रदेश पुलिस का एक दारोगा फिर अपनी आशिक मिजाती के कारण चर्चा में है। यह दारोगा विभाग की ही महिला सिपाहियों से अश्लील हरकतें करता है। एक नहीं कई महिला सिपाहियों ने दारोगा पर संगीन आरोप लगाए हैं।

महिला सिपाहियों का आरोप है कि दारोगा उन पर गंदे-गंदे कमेंट करता है। अपने आफिस में बुलाकर कमरा बंद कर लेता है। महिला सिपाहियों ने वाट्सएप कॉल करके परेशान करने का भी आरोप लगाया है। मामला मुरादाबाद के कटघर का है। महिला सिपाहियों ने इसकी शिकायत डीजीपी, एसएसपी, महिला आयोग समेत तमाम उच्चाधिकारियों से की। शिकायत को गंभीरता से लेते हुए एसएसपी हेमराज मीणा ने दारोगा जितेंद्र कुमार को लाइन हाजिर कर दिया है। पूरे प्रकरण की जांच सीओ कटघर शैलजा मिश्रा को दी है। सीओ ने थाने पर पहुंच कर शिकायत करने वाली सिपाहियों के बयान लिए हैं।

कटघर थाने की कई महिला सिपाहियों ने संयुक्त रूप से एक शिकायती पत्र पुलिस के उच्चाधिकारियों को दिया है। इसमें महिला सिपाहियों ने आरोप लगाया कि थाने के एसएसआई जितेंद्र कुमार उन्हें देख कर गंदे-गंदे कमेंट करते हैं। यह भी आरोप लगाया कि एसएसआई अपने ऑफिस में बुलाकर गेट बंद कर लेते हैं और इतना ही नहीं रात में महिला सिपाहियों को वाट्सएप कॉल करके परेशान करते हैं। वाट्सएप मैसेज कर मनचाही जगह ड्यूटी लगाने का प्रलोभन देकर अेकले में मिलने तक की बात एसएसआई कह चुके हैं।

शिकायतकर्ता महिला सिपाहियों ने एसएसआई के आपत्तिजनक वाट्सएप मैसेज के स्क्रीन शॉट भी शिकायती पत्र के साथ दिए हैं। शिकायत मिलने के बाद एसएसपी हेमराज मीणा ने मामले को गंभीरता से लेते हुए एसएसआई कटघर के पद पर तैनात दरोगा जितेंद कुमार को तत्काल प्रभाव से लाइन हाजिर कर दिया है।

सामूहिक हत्या या आत्महत्या, क्षेत्र में हड़कंप 

सामूहिक हत्या या आत्महत्या, क्षेत्र में हड़कंप   

संदीप मिश्रा  

जौनपुर। जिले में मड़ियाहूं कोतवाली क्षेत्र के जयरामपुर गांव में बुधवार की सुबह एक टेंट व्यवसायी ने अपने तीन बच्चों व पत्नी को मारकर खुद फंदा लगाकर जान दे दी। इस घटना में पांचों की मौत से गांव में हड़कंप मच गया। मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर जांच शुरू कर दी है।

जयरामपुर गांव निवासी नागेश कठियांव मार्ग पर टेंट का व्यवसाय करता था। बुधवार की सुबह देर तक जब नागेश के परिवार का कोई नहीं जगा तो लोगों ने उसके भाई को फोन करके बताया।

भाई ने जब दरवाजा खोलकर अंदर देखा तो नजारा देखकर अवाक रह गए। घर के एक कमरे में चारपाई पर दो बेटियों निकिता और आयुषी, पुत्र आदर्श के शव पड़े थे। थोड़ी दूरी पर पत्नी राधिका का भी शव पड़ा था। नागेश फंदे से लटक रहा था। परिवार के सदस्यों ने इस तरह का कदम क्यों उठाया गया यह अभी पता नहीं चल सका है।

ज्योति पहले से ग्रेजुएट, दिखाया शादी कार्ड  

ज्योति पहले से ग्रेजुएट, दिखाया शादी कार्ड   

संदीप मिश्रा  

बरेली। पीसीएस अधिकारी ज्योति मौर्या और उनके पति आलोक मौर्य की कहानी किसी फिल्मी कहानी से कम नहीं है। बनारस की रहने वालीं ज्योति मौर्य एक बेहद साधारण परिवार से आती हैं। उनके पिता की अपनी एक चक्की की दुकान है। वह बचपन से ही पढ़ने में बहुत तेज थीं, लेकिन पिता ने ग्रेजुएशन करने के बाद अपनी बेटी की शादी साल 2010 में आलोक मौर्य से कर दी थी। 

चर्चा है कि आलोक से शादी के बाद जब ज्योति अपने ससुराल पहुंचीं तो पति ने अपनी पत्नी को पढ़ा लिखा कर कुछ अच्छा बनाने का बीड़ा उठाया। यानी आप कह सकते हैं कि कुछ हद तक दोनों की कहानी अभिनेता अमिताभ बच्चन की फिल्म सूर्यवंशम की तरह है। वहीं, इस बीच ज्योति ने अपनी शादी का कार्ड मीडिया के सामने रखा है, जिसे आलोक ने फर्जी बता दिया है।

आलोक मौर्या ने कहा कि यह कार्ड मुझे फंसाने के लिए छपवाया गया है, क्योंकि जब शादी हुई तब यह अध्यापिका नहीं थीं, सिर्फ पढ़ रही थीं। कार्ड पूरी तरीके से झूठा है। आलोक मोर्या का यह भी कहना है कि उनकी पत्नी के पास कोई एलिमेंट नहीं है, इसलिए उनपर इल्जाम लगाने के लिए शादी के कार्ड को एक जरिया बनाया जा रहा है। आलोक के अनुसार, शादी के कार्ड पर तारीख, दिन, नाम, पता तो सही है लेकिन उनके नाम की नीचे लिखा गया ग्राम पंचायत अधिकारी गलत है।

पार्टनर में ये लक्षण हैं, रिलेशनशिप खत्म करें  

पार्टनर में ये लक्षण हैं, रिलेशनशिप खत्म करें  

कविता गर्ग  

किसी भी रिश्ते में प्यार और भरोसा रहना बहुत जरूरी होता है। वहीं अगर रिलेशनशिप की बात करें तो उसमें तो ये दो चीजें बहुत मायने रखती हैं। प्यार और भरोसे की वजह से ही दो लोग एक दूसरे से सालों-साल तक बंधे रहते हैं। वहीं अगर इनमें से किसी भी एक चीज की कमी हो, तो रिश्ते को आगे बढ़ाना एक चुनौती समान लगता है। 

आजकल ये देखा जा रहा है कि मारपीट, लड़ाई-झगड़े, डाइवोर्स के मामले बहुत ज्यादा देखने को मिल रहे हैं। इसकी एक वजह ये है कि हम पार्टनर की कुछ आदतों को इग्नोर करते रहते हैं, जो आगे चलकर आपकी पूरी लाइफ पर प्रभाव डालती है तो इन्हें नजरअंदाज करने की गलती बिल्कुल न करें। तो चलिए आज हम आपको कुछ आदतों के बारे में बताने जा रहे हैं जो पार्टनर में नजर आएं, तो ब्रेकअप करने में जरा भी वक्त न लगाएं। 

पार्टनर की इन आदतों तो बिल्कुल भी न करें इग्नोर

बात-बात पर झूठ बोलना

रिलेशनशिप में भरोसा बहुत जरूरी है बल्कि यही रिश्ते की बुनियाद मानी जाती है, लेकिन अगर आपको महसूस होता है कि आपका पार्टनर आपसे बेवजह झूठ बोलता है और आपने कई बार उसे चीटिंग करते पकड़ा भी है, तो फिर रिश्ते को आगे बढ़ाने की कोई वजह नहीं बाकी ये समझ लीजिए। छोटे-मोटे झूठ कब धोखे की बड़ी वजह बन जाते हैं, पता भी नहीं चलता। बेहतर होगा ऐसे रिलेशनशिप को वहीं खत्म कर दें।

एक्स के बारे में बातें करना

बता दें किसी के साथ रिलेशनशिप में रहना कोई गलत बात नहीं, लेकिन अगर अब वो आपके साथ हैं लेकिन फिर भी अपने एक्स को याद करते रहते हैं या उससे आपकी कंपेरिजन करते रहते हैं, तो इस आदत को भी सहन करने की जरूरत नहीं, क्योंकि आगे चलकर ये रिलेशनशिप को और ज्यादा खराब कर सकती हैं। ऐसे में बेहतर होगा ऐसे रिलेशनशिप से बाहर निकलें।

हर टाइम झगड़ा करना

क्या आपका पार्टनर भी हर छोटी बात को लड़ाई का मुद्दा बना लेता है, तो समझ जाएं कि वो इस रिलेशनशिप को आगे नहीं बढ़ाना चाहता और आपसे अलग होने के बहाने ढूंढ़ रहा है। हर वक्त होने वाले लडा़ई-झगड़े एक अलग ही तरह की मानसिक परेशानी देते हैं, जिसे लंबे वक्त तक झेलने के बजाय ऐसे व्यक्ति से दूरी बना लेने में ही समझदारी है।

संविदा कर्मियों को नियमित करने की कवायद

संविदा कर्मियों को नियमित करने की कवायद

दुष्यंत टीकम  

रायपुर। कांग्रेस ने 2018 के अपने चुनावी जन घोषणा पत्र में सरकार के विभिन्‍न विभागों में काम करने वाले संविदा, दैनिक वेतन भोगी (दैवेभो) और अनियमित कर्मचारियों को नियमित करने का वादा किया था। यह वादा अभी तक पूरा नहीं हो पाया है। कर्मचारी संगठन यह वादा पूरा करने के लिए लगातार सरकार पर दबाव बना रहे हैं। बताया जा रहा है कि सरकार भी अपने इस वादा को पूरा करने की दिशा में 2019 से ही प्रयास कर रही है, लेकिन विभागों से पूरी जानकारी नहीं मिलने के कारण मामला अटका हुआ है। अब सरकार जल्‍द ही अपना यह वादा भी पूरा करने जा रही है। चर्चा है कि छह जुलाई को प्रस्‍तावित कैबिनेट की बैठक में सरकार इस पर बड़ा फैसला ले सकती है।

अफसरों के अनुसार विधानसभा के मानसून सत्र की अधिसूचना जारी हो चुकी है। ऐसे समय में सरकार विधानसभा के बाहर कोई भी बड़ी घोषणा करने से बचती है। चर्चा है कि छह जुलाई को कैबिनेट की बैठक में यदि इसको लेकर कोई निणर्य होता है तो बहुत संभव है कि इसकी घोषणा 18 जुलाई से शुरू होने वाले विधानसभा के सत्र के दौरान की जाए। वहीं, कांग्रेस सूत्रों का कहना है कि विधानसभा चुनाव की अधिसूचना जारी होने से पहले सरकार यह घोषणा जरुर करेगी। ऐसे में सरकार के पास अभी 15 अगस्त तक का समय है।

केवल 24 विभागों ने ही भेजी है पूरी जानकारी

 कर्मचारियों के नियमितकरण को लेकर सामान्‍य प्रशासन विभाग (जीएडी) 2019 से ही सक्रिय है। बीते चार वर्षों जीएडी ने कई बार विभागों को पत्र लिखकर उनके यहां कार्यरत संविदा, दैवेभो और अनियमित कर्मचारियों की जानकारी मांग चुका है। विभागीय अफसरों के अनुसार अभी तक केवल 24 विभागों ने ही पूरी जानकारी भेजी है। बाकी 23 विभागों से अभी तक जानकारी प्राप्‍त नहीं हुई है।

ऐसे करे नंदी की पूजा, मनोकामना पूर्ण होगी    

ऐसे करे नंदी की पूजा, मनोकामना पूर्ण होगी    

सरस्वती उपाध्याय   

सावन का महीना शुरू हो चुका है और इस बार सावन का महीना 59 दिन का होने के कारण 8 सावन सोमवार भी होंगे। यदि आप इस दौरान भगवान शिव की पूरे भक्ति भाव के साथ आराधना कर रहे हैं तो नंदी देव की पूजन में भी कोई कमी न रखें। पौराणिक मान्यता है कि सावन माह में  शिव की उपासना करने से जीवन बल, बुद्धि, विद्या और धन की प्राप्ति होती है, लेकिन यदि आप नंदी देव की पूजा विधि विधान से करते हैं तो यही मनोकामना जल्द पूरी होती है।

जानें कौन है नंदी महाराज

हिंदू धर्मग्रंथों के मुताबिक  भगवान शिव के प्रिय गण हैं और वह उनके प्रिय वाहन हैं। यही कारण हैं कि शिवालय में भगवान शिव के पास हमेशा ही एक नंदी महाराज भी एक प्रतिमा होती है। ऐसी मान्यता है कि सावन के पवित्र महीने में नंदी महाराज को अपनी इच्छा बताने से साधक की मनोकामना जल्द पूर्ण हो जाती है। भगवान शिव जब तपस्या में लीन रहते हैं और भगवान नंदी उनकी सेवा में रहते हैं। ऐसे में लोग नंदी जी को ही अपनी मनोकामना बताते हैं, जो बाद में भगवान शिव तक उस मनोकामना को पहुंचाते हैं।

नंदी महाराज के कान में कहें मनोकामना

नंदी महाराज की उपासना करते समय और उनके कान में अपनी इच्छा बताने से पहले ‘ॐ’ शब्द जरूर बोलना चाहिए। ‘ॐ’ का दूसरा नाम प्रणव अर्थात परमेश्वर है और कई ग्रंथों में बताया गया है कि ‘ॐ’ ब्रह्मा, विष्णु और महेश यानी त्रिदेवों के प्रतीक हैं, यही कारण है कि वैदिक मंत्र के प्रारंभ में ‘ॐ’ का उच्चारण जरूर किया जाता है।

1 लाख 10 हजार कावड़ियों ने गंगा जल भरा 

1 लाख 10 हजार कावड़ियों ने गंगा जल भरा   

श्रीराम मौर्य   

हरिद्वार। सावन के महीने के आगाज के साथ ही धर्मनगरी हरिद्वार में कांवड़ मेले का भी शुभारंभ हो गया है। शिव भक्तों के बम-बम भोले के जयकारों से धर्मनगरी गुंजायमान है। सावन महीने के शुरू होने के साथ ही कल एक लाख दस हजार कांवड़ यात्रियों ने गंगा पूजन के बाद जल भरा।

सावन के महीने की शुरूआत मंगवार से हो गई है। मंगलवार से ही हरिद्वार में कांवड़ मेले की भी शुरूआत हो गई है। यूं तो हरिद्वार में एक हफ्ते पहले से ही कांवड़ यात्रियों का यहां आना शुरू हो गया था लेकिन कल से भक्तों की भारी भीड़ यहां उमड़ रही है। बम-बम भोले के जयकारों से धर्मनगरी गूंज रही है।

एक लाख दस हजार कांवड़ यात्रियों ने भरा जल

मंगलवार को सावन महीने के पहले दिन दूर-दराज से आए एक लाख दस हजार कांवड़ यात्रियों ने गंगा पूजन के बाद मां गंगा का जल भरा। बम-बम भोले और हर-हर शंभू के जयकारों के बीच गंगा जल भर कर कांड़यात्रियों ने कांवड़ उठाई और लंबे-लंबे डग भरते हुए अपने-अपने गंतव्यों के लिए रवाना हुए।

घाटों पर हर तरफ नजर आए कांवड़िए

धर्मनगरी में हरकी पैड़ी समेत तमाम घाटों पर जहां तक नजर जा रही है वहां तक भगवाधारी कांवड़िए ही नजर आ रहे हैं। पहले ही दिन भक्तों की भीड़ हरिद्वार में उमड़ी। जल भरने के लिए सबसे ज्यादा कांवड़िए दिल्ली, राजस्थान, पंजाब, हरियाणा, मध्य प्रदेश से आए थे। इनमें ज्यादातर कावड़िए पैदल गंगा जल लेकर अपने गंतव्यों के लिए रवाना हुए। गंगाजल लेकर कांवड़ियों को नहर पटरी मार्ग से वापस भेजा जा रहा है।

मंदिर में मांस फेंक माहौल बिगाड़ने का प्रयास

मंदिर में मांस फेंक माहौल बिगाड़ने का प्रयास

संदीप मिश्रा  

बरेली। हाफिजगंज में क्षेत्र के सनेकपुर गांव में मंदिर में मीट के टुकड़े फेंककर माहौल बिगाड़ने का प्रयास किया गया। घटना की सूचना पर पहुंची भारी मात्रा में पुलिस फोर्स वहां पहुंची है।

थाना नवाबगंज के हाफिजगंज के गांव सनेकपुर में आज उस समय हड़कंप मच गया। जब वहां के शिव मंदिर में पूजा करने आए लोगों ने मीट के टुकड़े पड़े देखे। मंदिर में मीट के टुकड़े पड़े देखकर ग्रामीणों ने हंगामा शुरू कर दिया। घटना की सूचना पर सीओ चमन सिंह चावड़ा भारी फोर्स के साथ गांव में पहुंच गए।सांप्रदायिक दंगे की आशंका से गांव में भारी संख्या में पुलिस बल तैनात कर दिया गया है।

2 साल पहले भी किया गया था माहौल बिगाड़ने का प्रयास

बताया जा रहा है गांव में मुस्लिम आबादी ज्यादा है। अब से 2 साल पहले भी इसी मंदिर का गेट तोड़कर माहौल बिगाड़ने का प्रयास किया गया था। अब सावन शुरू होते ही फिर से गांव का माहौल बिगाड़ने की कोशिश की गई है। वहीं इस मामले को लेकर पुलिस अधिकारियों का कहना है कि किसी को भी बख्शा नहीं जाएगा।

नवजात व मां को बंद करके भूखा रखा: यातना

नवजात व मां को बंद करके भूखा रखा: यातना 

आदर्श श्रीवास्तव  

पीलीभीत। दहेज की मांग पूरी न होने पर ससुराल वालों ने विवाहिता को नवजात के साथ कमरे में बंद करके भूखा रखा। उसके बाद मारपीट कर घर से निकाल दिया। दूसरे ही दिन पति दो लोगों संग मायके आया और बच्चे को भी छीन के भाग गया। पुलिस ने पति समेत आठ पर रिपोर्ट दर्ज की है।

दर्ज की गई रिपोर्ट में पीड़ित रामसेवक ने बताया कि उनकी पुत्री सीमा की शादी सोलह अप्रैल 2020 को  कमलेश से हुई थी। शादी के कुछ दिन बाद ही ससुराल वालों ने पति के लिए टेंपो खरीदने को डेढ़ लाख रूपए की मांग रख दी। जब पीड़िता ने असमर्थता जताई तो ससुराल वाले प्रताड़ित करने लगे।  14 अगस्त 2021 को विवाहिता ने एक पुत्र को जन्म दिया। इसका खर्च भी मायके वालों ने ही उठाया। 

आरोप है कि मांग पूरी कराने के लिए ससुरालियों ने विवाहिता को बच्चे संग कमरे में बंद करके कई दिन भूखा भी रखा। एक जुलाई को मारपीट करने के बाद उसे घर से निकाल दिया। इस दौरान बच्चे को भी पीटा गया। दूसरे दिन पति दो साथियों संग मायके आया। तमंचा दिखाकर धमकाया और बच्चे को लेकर भागने लगा। शोर पर स्थानीय लोगों ने घेराबंदी की लेकिन आरोपी भाग गए।  पुलिस ने पति कमलेश, मंजू देवी, द्वारिका प्रसाद, सोमपाल, मुन्नी देवी, जयमंती देवी और दो अज्ञात पर घरेलू हिंसा, दहेज उत्पीड़न, मारपीट, गाली गलौज, धमकाने की रिपोर्ट दर्ज की है।

उत्तराखंड: 7 जिलों में भारी बारिश का अलर्ट  

उत्तराखंड: 7 जिलों में भारी बारिश का अलर्ट    

श्रीराम मौर्य   

देहरादून। उत्तराखंड में जहां बारिश कहर बरसा रही है। कई मार्ग बाधित है तो वहीं मौसम विभाग ने कई जिलों में भारी बारिश का पूर्वानुमान जारी किया है। देहरादून सहित सात जिलों में भारी बारिश का अलर्ट जारी किया गया है। विभाग ने 7 जुलाई तक में येलो अलर्ट जारी किया है। जबकि 8 से 14 जुलाई तक आंशिक बूंदाबांदी होने का पूर्वानुमान है।

मीडिया रिपोर्टस के अनुसार प्रदेश में आज मौसम विभाग ने आज देहरादून, टिहरी ,पौड़ी ,बागेश्वर नैनीताल ,चमोली और चंपावत जनपदों में कहीं-कहीं भारी बारिश की संभावना है। मौसम विभाग ने लोगों से सावधान एवं सुरक्षित रहने की अपील की है उस स्टॉक भारी बारिश के चलते संवेदनशील क्षेत्रों में भूस्खलन और चट्टान गिरने की आशंका है। कहीं-कहीं आकाशीय बिजली गिरने का पूर्वानुमान भी मौसम विभाग ने दिया है। 8 जुलाई तक इसी तरह का मौसम रहने का अनुमान जताया गया है।

मौसम विभाग के पूर्वानुमान के अनुसार जुलाई के दूसरे और तीसरे हफ्ते में मानसून कमजोर पड़ सकता है, जिससे तापमान में वृद्धि होगी। महीने के अंतिम सप्ताह में फिर से अच्छी बारिश की संभावना जताई गई है। मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक डॉ विक्रम सिंह का कहना है कि मानसून में हर साल बदलाव की स्थिति बनती है। उससे कहीं अच्छी तो कहीं मध्यम बारिश की संभावना रहती है। जुलाई में मानसून कमजोर होने की संभावना है।

धामी ने गृहमंत्री और पीएम से मुलाकात की   

धामी ने गृहमंत्री और पीएम से मुलाकात की   

अकांशु उपाध्याय   

नई दिल्ली/देहरादून। धामी का दिल्ली दौरा चर्चा का विषय बन गया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात के बाद मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने मंगलवार शाम को नई दिल्ली में भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाकात की। इस मुलाकात के बाद से ही राजनीतिक गलियारों में चर्चाओं का बाजार गर्म हो गया है।

राजनीतिक गलियारों में धामी मंत्रिमंडल में विस्तार व फेरबदल की चर्चा को तेजी से हवा मिली है। कहा जा रहा है कि मुख्यमंत्री के दिल्ली से लौटने के बाद मंत्रिमंडल विस्तार व फेरबदल के साथ ही दायित्व वितरण की दिशा में कदम बढ़ाए जा सकते हैं। धामी कैबिनेट के विस्तार पर कई दिनों से चर्चा थी। अब एक बार फिर से इस मुलाकात के बाद चर्चाओं का बाजार गर्म हो गया है।

गृह मंत्री से भी हुई मुलाकात

नई दिल्ली प्रवास के दौरान मुख्यमंत्री धामी ने सोमवार को भाजपा के राष्ट्रीय महामंत्री संगठन बीएल संतोष और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात की। मंगलवार को प्रधानमंत्री मोदी से मिलने के बाद उन्होंने भाजपा अध्यक्ष नड्डा से भेंट कर राज्य में समान नागरिक संहिता लागू करने की दिशा में बढ़ाए गए कदमों की जानकारी दी। साथ ही राज्य से जुड़े अन्य विषयों पर भी विमर्श किया।

मंत्रिमंडल में रिक्त पदों को भरने की उठी बात

माना जा रहा है कि मुख्यमंत्री ने मंत्रिमंडल में रिक्त पड़े चार पदों को भरने के साथ ही विभिन्न निगमों, प्राधिकरणों व आयोगों में अध्यक्ष, उपाध्यक्ष और सदस्य के रूप में दिए जाने वाले दायित्वों के वितरण के संबंध में भी चर्चा की। इसके बाद से राजनीतिक गलियारों में इन विषयों को लेकर चर्चा तेज हो गई है। बता दें कि मंत्रिमंडल में विस्तार और दायित्व वितरण के विषय लंबे समय से लटकते आ रहे हैं। समझा जा रहा है कि इस सिलसिले में मुख्यमंत्री ने पार्टी के राष्ट्रीय नेतृत्व से हरी झंडी ले ली है।

पहले प्यार, दुराचार, गर्भवती होने पर इंकार

पहले प्यार, दुराचार, गर्भवती होने पर इंकार   

श्रीराम मौर्य  

देहरादून। राजधानी देहरादून में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। आरोप है कि एक कोचिंग सेंटर में पढ़ाने वाली युवती के साथ वहां पढ़ने वाले छात्र ने शादी का झांसा देकर दुष्कर्म किया। इससे वह गर्भवती हुई तो उसका जबरन गर्भपात भी करा दिया। मामले में पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी है, और पुलिस आरोपित को जल्द गिरफ्तार करने की बात कह रही है।

इंस्पेक्टर कैंट संपूर्णानंद गैरोला ने बताया कि क्षेत्र की एक युवती कोचिंग सेंटर में पढ़ाती है। युवती के अनुसार उनके कोचिंग सेंटर में मोहित नाम का एक युवक भी पढ़ने आता था। पिछले साल जुलाई में वह उससे बात करने लगा। धीरे-धीरे दोनों में जान पहचान हो गई। कुछ दिनों बाद उसने इंस्टाग्राम पर मैसेज किए और उससे प्यार करने की बात कही।

युवती ने उसका प्रस्ताव मान लिया और उससे बात करने लगी। इसी बीच मोहित ने कहा कि वह उससे शादी करना चाहता है। युवती भी राजी हो गई। एक दिन मोहित ने युवती से कहा कि उसकी भांजी भी युवती से घर पर ट्यूशन पढ़ना चाहती है। मोहित इसके लिए युवती को अपने घर ले गया और अपने परिजनों से मिलवाया।

युवती का आरोप है कि वहां पर मोहित ने उसके साथ दुष्कर्म किया। जब उसने इस बात का विरोध किया तो उसके परिजनों ने भी उसे धमकियां दीं। इसके बाद मोहित फिर से युवती से अक्तूबर 2022 में मिला और अपने साथ एक होटल में ले गया। वहां उसने फिर से दुष्कर्म किया। कुछ दिन बाद जब वह गर्भवती हो गई तो उसने यह बात मोहित को बताई। इस पर मोहित ने उसका जबरन गर्भपात कराया और उसे गोली मारने की धमकी दी।‌

चट्टान टूट कर ऊपर गिरी, 3 लोगों की मौत 

चट्टान टूट कर ऊपर गिरी, 3 लोगों की मौत   

सुनील श्रीवास्तव   

दीमापुर। नगालैंड के दीमापुर जिले के चुमुकेदिमा में भूस्खलन के कारण पहाड़ से गिरी विशाल चट्टान ने सड़क पर खड़ी एक कार को लगभग पूरी तरह से कुचल दिया। पास में खड़ी दूसरी कार भी उसकी चपेट में आ गई। पलक झपकते ही आगे खड़ी एक और कार को एक बड़े ने पत्थर ने रौंद दिया।

जिस कार पर चट्टान सबसे पहले गिरी, उसमें सवार दो लोगों की मौत हो गई। घटना में तीन लोग गंभीर रूप से घायल हुए हैं। इस पूरी घटना का पांच सेकेंड का एक वीडियो वायरल हो रहा है। वीडियो विचलित करने वाला है। न्यूज एजेंसी एएनआई के मुताबिक, पुलिस ने इस वायरल वीडियो की पुष्टि की है।

नगालैंड के मुख्यमंत्री नेफ्यू रियो ने जताया दुख

सड़क पर पीछ खड़ी एक अन्य गाड़ी के डैशबोर्ड कैमरे में यह भयानक हादसा कैद हो गया। नगालैंड के मुख्यमंत्री नेफ्यू रियो ने हादसे पर शोक-संवेदना व्यक्त की है। एक ट्वीट में उन्होंने कहा, ”आज शाम करीब 5 बजे दीमापुर और कोहिमा के बीच राष्ट्रीय राजमार्ग पर चट्टानें गिरने से गंभीर क्षति हुई, जिसमें 2 लोगों की मौत हो गई और 3 अन्य गंभीर रूप से घायल हो गए। इस स्थान को हमेशा ‘पकाला पहाड़’ के नाम से जाना जाता है जो भूस्खलन और चट्टानों के गिरने के लिए जाना जाता है।”

एक अन्य ट्वीट में मुख्यमंत्री रियो ने कहा, ”इमरजेंसी सेवाएं मुहैया कराने के लिए राज्य सरकार सभी कदम उठा रही है। प्रत्येक मृतक के परिजनों को 4-4 लाख रुपये की अनुग्रह राशि और घायलों को आवश्यक चिकित्सा सहायता और मदद प्रदान की जाएगी।”

8 साल बाद काजल-कृति एक साथ दिखेंगी 

8 साल बाद काजल-कृति एक साथ दिखेंगी 

कविता गर्ग   

मुंबई। काजोल और कृति सैनन नेटफ्लिक्स इंडिया की मिस्ट्री थ्रिलर ओरिजिनल फिल्म “दो पत्ती” में साथ में नजर आएंगी।  यह फिल्म सैनन और लेखिका कनिका ढिल्लों के प्रोडक्शन डेब्यू का भी प्रतीक है। रोमांचक रहस्य से भरी सवारी के रूप में पेश की गई यह फिल्म उत्तरी भारत की पहाड़ियों पर आधारित है। हालांकि इस फिल्म का डडायरेक्शन कौन कर रहा है इस बात से अभी तक पर्द नहींं उठा है। इस फिल्म के जरिए कृति और काजोल 8 साल बाद एक बार फिर साथ आ रहे हैैं। आखिरी बार ये दोनों फिल्म दिलवाले में नजर आए थे। स्टारर ‘तेजस’ के नए पोस्टर्स के सााथ रिलीज डेट का हुआ ऐलान, एक्ट्रेस एयरफोर्स पायलट के किरदार में नजर आएंगी।

27 जिला अस्पतालों में किडनी का फ्री इलाज

27 जिला अस्पतालों में किडनी का फ्री इलाज  

दुष्यंत टीकम  

रायपुर। बढ़ती उम्र के साथ-साथ बीमारियां भी आपको जकड़ने लगती है। जैसे-जैसे उम्र की दहलीज बढ़ती जाती है बीमारियां भी बढ़ती जाती है। बीमारियां बढ़ने के साथ-साथ घर की आर्थिक स्थिति भी कमजोर होने लगती है। इन बीमारियों में से एक बीमारी है किडनी की। अगर आप किडनी के मरीज है तो आपको डायलिसिस कराने के लिए लाखों रुपए खर्च करने पड़ते हैं। लेकिन देश का एक राज्य ऐसा भी है जो किडनी के मरीजों के डायलिसिस के इलाज के लिए निशुल्क सुविधा देता है।

छत्तीसगढ़ के 27 जिलों के जिला अस्पताल में फ्री में डायलिसिस किया जाता है

छत्तीसगढ़ राज्य में स्वास्थ्य सेवाओं में लगातार विस्तार हो रहा है। राज्य के 27 जिला चिकित्सालयों में डायलिसिस की सुविधा विकसित कर ली गई है। इससे किडनी रोगों से पीड़ितों को अब उनके जिला मुख्यालय में ही निःशुल्क डायलिसिस की सुविधा मिल रही है। प्रदेश के दूरस्थ अंचलों के मरीजों को अब डायलिसिस के लिए बड़े शहरों का रूख नहीं करना पड़ रहा है। किडनी संबंधी रोग से ग्रस्त मरीज को लंबे समय तक बार-बार डायलिसिस कराना पड़ता है। इससे उन पर बड़ा आर्थिक बोझ पड़ता है। स्थानीय स्तर पर ही निःशुल्क डायलिसिस की सुविधा मिलने से अब इसके मरीजों को बड़ी राहत मिली है।

आपकी खूबसूरती को लाजवाब बनाने में मददगार

आपकी खूबसूरती को लाजवाब बनाने में मददगार   

श्रद्धा शाह   

अगर आप भी प्रोफेशनल और स्टाइलिश दिखना चाहती हैं तो आप इस ब्लैक प्लाजो को इस तरह कैरी कर सकती हैं आपको बता दें कि इस ब्लैक प्लाजो को आप किसी भी आउटफिट के साथ कैरी कर सकते हैं फिर वह टीशर्ट टॉप हो या करती हो या तो आप के हर आउटफिट को लाजवाब बना देता है और खूबसूरत लगता है।

इसी के साथ आप इस ब्लैक प्लाजो कुर्ती के साथ भी ट्राई कर सकती है जैसा कि आप देख सकते हैं ब्लैक कलर की कुर्ती और इसके साथ ब्लैक कलर का प्लाजो आपकी खूबसूरती को लाजवाब बनाने में मदद करने वाला है इसे ट्राई जरूर करें।

अगर आप एक चेक शर्ट के साथ ब्लैक प्लाजो को कह रही करती है तो आप प्रोफेशनल दिखने वाली है और आप का लुक भी लाजवाब लगने वाला है। आपको बता दें कि अगर आपको कुल देखना है तो यह सेट आप जरूर ट्राई करें ताकि आप भी बेहद खूबसूरत लगे।

1 करोड़ से अधिक की हेरोइन जब्त, 1 अरेस्ट

1 करोड़ से अधिक की हेरोइन जब्त, 1 गिरफ्तार

सुनील श्रीवास्तव  

नई दिल्ली। केंद्रीय जांच ब्यूरो गुजरात में ओएनजीसी पेट्रो एडिशंस लि. के एक संयंत्र से जुड़े अनुबंध को प्रभावित करने एवं लॉबिस्ट संजय भंडारी के खिलाफ रिश्वत के एक मामले में ब्रिटेन, संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) और दक्षिण कोरिया को न्यायिक अनुरोध भेजेगी।

अधिकारियों ने बताया कि आरोपी व्यक्तियों व कंपनियों के बारे में जानकारी प्राप्त करने के लिए यूएई, ब्रिटेन और दक्षिण कोरिया को न्यायिक अनुरोध जारी करने के लिए तीन अनुरोध दायर की हैं। किसी विदेशी अदालत की सहायता प्राप्त करने के लिए न्यायिक अनुरोध भेजा जाता है। असम राइफल्स ने पुलिस के साथ एक संयुक्त अभियान में 276 ग्राम से अधिक हेरोइन के साथ एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया है।

अंतरराष्ट्रीय बाजार में इसकी कीमत 1.1 करोड़ है। अधिकारी ने बताया कि फिलहाल आगे की कार्रवाई के लिए मामला जिरीघाट पुलिस को सौंप दिया गया है। एक अभियान के तहत असम राइफल्स (पूर्व) ने जोखावथार के मेलबुक के सामान्य क्षेत्र में अवैध सुपारी के 150 बैग और 1.07 करोड़ रुपये मूल्य की हेरोइन जब्त की गई थी।

राजस्थान: पेपर लीक हत्या के बराबर जुर्म  

राजस्थान: पेपर लीक हत्या के बराबर जुर्म  

पेपर लीक हत्या के बराबर जुर्म होगा,गहलोत का ऐलान

नरेश राघानी 

जयपुर। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत सरकार ने पेपर लीक माफिया की कमर तोड़ने की दिशा में आज बड़ा ऐलान किया है। राजस्थान में अब पेपर लीक में दोषी साबित होने वाले अपराधियों को उम्र कैद की सजा का प्रावधान किया जाएगा। सीएम गहलोत ने इस संबंध में इसी सत्र में बिल विधानसभा में पेश करने का ऐलान किया है। सीएम ने मुख्य सचिव को इस बाबत निर्देश जारी कर दिए हैं। अगर सबकुछ ठीक रहा तो राजस्थान देश का ऐसा पहला प्रदेश बन जायेगा जहां पेपर लीक को लेकर सख्त कानून होगा।

राजस्थान में अब पेपर लीक का अपराध हत्या के बराबर जुर्म माना जाएगा। गहलोत सरकार पेपर लीक माफिया की कमर तोड़ने के मकसद से विधानसभा के इसी सत्र में इसका बिल पेश करेगी। पेपर लीक में दोषी पाये जाने पर अपराधी को पूरी जिंदगी जेल में गुजारनी होगी। पेपर लीक के मामलों ने कई राज्यों की सरकारों की छवि धूमिल की है। इसने सरकारों के विकास कार्यों पर खूब पानी फेरा है। काबिल युवाओं की जगह ना काबिल लोगों ने नौकरियां हथिया कर पूरे सिस्टम को ठेंगा दिया।

सरकार ने इसे हत्या के बराबर जुर्म की संज्ञा दी है।

उसके बाद अब कहीं जाकर राजस्थान सरकार ने ऐसे मामलों से सबक सीखा है। पेपर लीक माफिया के खिलाफ जब बुलडोजर और संपति जब्त करने की कार्रवाई भी बेअसर साबित होती दिखी तो अब सरकार ने इसे हत्या के बराबर जुर्म की संज्ञा दी है। सरकार को उम्मीद है कि नकल और तिकड़म का खेल अब खत्म होगा। नकल कर अफसर और कर्मचारी बनने वाले न अच्छा समाज बना सकते और न ही समाज को सही दिशा दे सकते हैं।

10 हजार एकड़ भूमि पर बनेगा जंगल सफारी

10 हजार एकड़ भूमि पर बनेगा जंगल सफारी   

राजेश ओबरॉय   

चंडीगढ़। हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने अपने अधिकारियों के साथ एक बैठक की आयोजन की है, जिसमें निर्णय लिया गया है कि हरियाणा में 10 हजार एकड़ भूमि में एक जंगल सफारी स्थापित की जाएगी।

यह जंगल सफारी पर्यटन और प्राकृतिक संसाधनों को बढ़ावा देने के लिए मनोहर लाल की पहल का हिस्सा होगी। इस सफारी में विभिन्न प्रजातियों के जानवरों को रखा जाएगा, जिन्हें पर्यटकों को देखने और उनके आसपास घूमने का मौका मिलेगा।

बैठक में मुख्यमंत्री ने बताया कि इस जंगल सफारी को प्राकृतिक आकर्षण के रूप में विकसित किया जाएगा और वन्य जीवों के संरक्षण के लिए आवास की व्यवस्था की जाएगी। इससे पर्यटन क्षेत्र में नये रोजगारी संभावनाएं भी बढ़ेंगी। मनोहर लाल ने अधिकारियों से आग्रह किया है कि वे इस प्रकल्प के लिए तत्परता से काम करें और सुनिश्चित करें कि जंगल सफारी का निर्माण बेहतरीन ढंग से हो। उन्होंने यह भी जोर दिया है।

सीएम ने अग्रवाल टोल प्लाजा बंद करवाया

सीएम ने अग्रवाल टोल प्लाजा बंद करवाया   

अमित शर्मा  

बाघापुराना। मुख्यमंत्री भगवंत मान ने आज मोगा-कोटकपूरा रोड पर स्थित चंद पुराना में लगा पी.डी. अग्रवाल टोल प्लाजा बंद करवा दिया है। उन्होंने कहा कि पंजाब में पहले 9 टोल प्लाजा बंद किए जा चुके हैं और यह 10वां टोल प्लाजा है जिसे बंद कर दिया गया है।

उन्होंने कहा कि टोल प्लाजा बंद होने से वाहन चालकों का रोजाना लाखों रुपए का फायदा होगा। चंद पुराना टोल प्लाजा बंद करवाने के लिए विधायक अमृतपाल सिंह सुखानंद द्वारा लंबे समय से प्रयास किए जा रहे थे जिन्हें मुख्यमंत्री भगवंत मान ने पूरा किया।

इस मौके पर कैबिनेट मंत्री हरभजन सिंह, साधु सिंह पूर्व एम.पी., विधायक अमृतपाल सिंह सुखानंद, धर्मकोट के विधायक दविंदर सिंह लाडी, अमनदीप कौर अरोड़ा विधायक मोगा, मनजीत सिंह बिलासपुर विधायक निहाल सिंह वाला, जिला प्रधान हरमनदीप सिंह दीदारे वाला, दीपक अरोड़ा चेयरमैन और बड़ी संख्या में अन्य नेता मौजूद हैं।

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण


1. अंक-263, (वर्ष-06)   पंजीकरण:- UPHIN/2010/57254

2. बृहस्पतिवार, जुलाई 6, 2023

3. शक-1944, श्रावण, कृष्ण-पक्ष, तिथि- तीज, विक्रमी सवंत-2079‌‌।

4. सूर्योदय प्रातः 05:18, सूर्यास्त: 07:13। 

5. न्‍यूनतम तापमान- 20 डी.सै., अधिकतम- 33+ डी.सै.। बरसात की संभावना बनी रहेगी।

6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है। 

7.स्वामी, मुद्रक, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम व शिवांशु  (विशेष संपादक) श्रीराम व सरस्वती (सहायक संपादक) संरक्षण-अखिलेश पांडेय, ओमवीर सिंह, वीरसैन पंवार, योगेश चौधरी आदि के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी।

8. संपर्क व व्यवसायिक कार्यालय- चैंबर नं. 27, प्रथम तल, रामेश्वर पार्क, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102। 

9. पंजीकृत कार्यालयः 263, सरस्वती विहार लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102

http://www.universalexpress.page/ www.universalexpress.in 

email:universalexpress.editor@gmail.com 

संपर्क सूत्र :- +919350302745--केवल व्हाट्सएप पर संपर्क करें, 9718339011 फोन करें।

(सर्वाधिकार सुरक्षित)

'बुंदेलखंड' को निवेश का नया गंतव्य बनाया

'बुंदेलखंड' को निवेश का नया गंतव्य बनाया  संदीप मिश्र  लखनऊ। कभी पिछड़े क्षेत्र के रूप में पहचान रखने वाले बुंदेलखंड को योगी सरकार न...