शुक्रवार, 14 अप्रैल 2023

अंबेडकर शोभायात्रा निकालने को लेकर 2 पक्ष भिड़े 

अंबेडकर शोभायात्रा निकालने को लेकर 2 पक्ष भिड़े 

संदीप मिश्र 

मथुरा। उत्तर प्रदेश में मथुरा जिले के जैत थाना क्षेत्र अंतर्गत ग्राम नगला भरतिया में शुक्रवार को अंबेडकर शोभायात्रा निकालने को लेकर दो पक्ष आमने सामने आ गए। दोनो पक्षों में हुए विवाद में पथराव भी हुआ। पुलिस के अनुसार यात्रा के दौरान दो पक्ष आमने-सामने आ गए। लेकिन कोई हताहत नही हुआ। 

सूचना पर भारी पुलिस बल के साथ गांव में पहुंचे एसपी सिटी मार्तन्ड प्रकाश सिंह ने बताया, कि गांव में विवाद उस समय हुआ, जब कि एक गुट द्वारा अपरंपरागत तरीके से अंबेडकर जयंती पर शोभायात्रा निकालने का प्रयास किया गया, जिसका दूसरे गुट ने विरोध किया। उन्होंने बताया कि इस घटना में कोई हताहत नहीं हुआ है, तथा स्थिति पूरी तरह से नियंत्रण में है। चूंकि शोभायात्रा अपरंपरागत थी। इसलिए उसे रोक दिया गया है, तथा गांव में भारी पुलिस बल तैनात कर दिया गया है।

हर्सोल्लास के साथ मनाई 'अंबेडकर' की जयंती 

हर्सोल्लास के साथ मनाई 'अंबेडकर' की जयंती 


हर्सोल्लास के साथ मनाई गई डॉ. अंबेडकर की 132वीं जयंती

पुष्प अर्पित कर लोगों ने उनके आदर्शों पर चलने का लिया संकल्प

कौशाम्बी। करारी कस्बे में शुक्रवार को संविधान निर्माता डॉ. भीमराव अंबेडकर की 132वीं जयंती बड़े ही हर्सोल्लास के साथ मनाई गई। कार्यक्रम में लोगों ने बाबा साहब को पुष्प अर्पित कर नमन किया। साथ ही उनके आदर्शों पर चलने का संकल्प लिया। करारी कस्बे के अंसारगंज मोहल्ले में संविधान के शिल्पकार भारत रत्न बाबा साहब डॉ. अंबेडकर की 132 वीं जयंती बड़े ही धूमधाम से मनाई गई। कार्यक्रम की शुरुआत केक काटकर व डॉ. अंबेडकर के चित्र के सम्मुख दीप प्रज्वलित कर किया गया। इसके बाद लोगों ने माल्यार्पण व पुष्प अर्पित कर नमन किया।

इस दौरान कार्यक्रम के मुख्य अतिथि द्वाबा विकास एवं उत्थान समिति के सचिव परवेज रिजवी ने कहा कि डॉ आंबेडकर ने जीवन भर दलितों, शोषितों और पिछड़ों के उत्थान में लगा दिया। देश का कानून लिखकर सभी को समानता और शिक्षा का अधिकार दिया। सही मायने में डॉ आंबेडकर विश्व रत्न हैं। इस मौके पर सुनील चौधरी ने कहा कि बाबा साहब डॉ आंबेडकर के आदर्शों पर चलकर ही दलित समाज विकास के नए आयाम स्थापित कर सकता है। आज विश्व के सैकड़ों देशों में बाबा साहब ही जयंती मनाई जा रही है। संविधान निर्माता के साथ साथ बाबा साहब महान विद्वान व महान अर्थशास्त्री और देश के प्रथम कानून मंत्री रह चुके हैं।

हम सब उनके बताए तीन मूलमंत्र शिक्षित बनो, संगठित रहो, संघर्ष करो, पर चलकर सामाजिक आर्थिक और शैक्षणिक उत्थान कर सकते हैं। बाबा साहब के संघर्षों से दुनिया उन्हें युगों युगों तक याद करेगी। कांग्रेस नेता विनोद चौधरी ने कहा कि डॉ आंबेडकर ने ही सभी के लिए समानता और शिक्षा का द्वार खोला है। उन्होंने समस्त भारतीयों को वोट देने का अधिकार देकर राजशाही व्यवस्था समाप्त करने का काम किया है। बाबा साहब डॉ आंबेडकर सिर्फ एक व्यक्ति एक विचारधारा ही नही बल्कि युग पुरुष थे। इसके अलावा कार्यक्रम को कांग्रेस जिलाध्यक्ष अरुण विद्यार्थी, एनएसयूआई जिलाध्यक्ष अमित द्विवेदी, मुकेश राव, शैलेश गौतम आदि ने भी संबोधित किया। इस मौके पर अवधेश गौतम, इंद्रजीत सरोज, हीरा लाल,  बड़कू शर्मा सहित काफी संख्या में महिलाएं मौजूद रहीं।

अरविंद कुमार मौर्य 

अंसारी ने उड़ाई 'आचार संहिता' की धज्जियां 

अंसारी ने उड़ाई 'आचार संहिता' की धज्जियां 

संदीप मिश्र 

लखनऊ/पीलीभीत। यूपी राज्य चुनाव आयोग की ओर से आचार संहिता को लागू करते हुए प्रशासन को पालन कराने के निर्देश दिए हैं। लेकिन, वोटरों को लुभाने के लिए सपा से दावेदारी ठोक रहे नफीस अहमद अंसारी ने महिलाओं को साड़ी और सूट का खुलेआम वितरण किया। नफीस अहमद का सूट-साड़ी बांटते हुए एक वीडिया सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। जिसमें खुलेआम आचार संहिता की धज्जियां उड़ाई जा रही हैं। वीडियो वायरल होने के बाद भी प्रशासन की नींद नहीं टूट सकी है। शहर के केजीएन कॉलोनी सपा नेता नफीस अहमद अपनी पत्नी नसरीन अंसारी की ओर से दावेदारी ठोक रहे हैं।

शुक्रवार को नफीस अहमद ने खुलेआम आचार संहिता का उल्लंघन करते हुए अपने दफ्तर में बढ़ी संख्या में महिलाओं को एकत्र किया। जहां महिलाओं को लुभाने के लिए सूट और साड़ी का वितरण किया जा रहा था। इतना ही नहीं, वीडियो में साफ तौर पर वोटरों को लुभाने के इरादे से इस कार्यक्रम का आयोजन किया था। जिसमें करीब 250 से 300 महिलाएं इस कार्यक्रम में मौजूद रही थी। वीडियो में नफीस अहमद स्वयं ही सूट साड़ी का वितरण करते हुए नजर आ रहे हैं। जनता के बीच इस वितरण को समाज सेवा बताते हुए सपा नेता नफीस अंसारी ने वीडियो भी बनवाया। नफीस अहमद पहले खुद अध्यक्ष पद की दावेदारी कर रहे थे।

लेकिन महिला सीट होने की वजह से उन्होंने अपनी पत्नी का नाम आगे बढ़ाया है। इसके अलावा नफीस अहमद पूर्व में विधानसभा चुनाव भी दावेदारी कर चुके हैं। करीब दो घंटे तक साड़ी और सूट का वितरण कॉलोनी में चलता रहा। लेकिन इसके बावजूद भी प्रशासन को इसकी भनक तक नहीं लगी। जबकि आचार संहिता का उल्लंघन करने वालों पर निगरानी करने के लिए टीम बनाई गई है।

लेकिन प्रशासन को फिर भी कुछ पता नहीं चल सका। चुनाव से पहले आचार संहिता उल्लंघन का मामला चर्चा का विषय बना हुआ है। साड़ी और सूट बांटते हुए एक वीडियो संज्ञान में आया है। जिसकी जांच कराई जा रही है। सत्यता सामने आने पर कार्रवाई की जाएगी। आचार संहिता लागू है, इसलिए इस तरह के कार्यक्रम का आयोजन नहीं हो सकेगा।

झूठे सबूतों से अदालत को गुमराह कर रहा 'ईडी'

झूठे सबूतों से अदालत को गुमराह कर रहा 'ईडी'

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। आम आदमी पार्टी (आप) के राष्ट्रीय संयोजक एवं दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शुक्रवार को कहा, कि आबकारी नीति मामलें में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) झूठे सबूतों से अदालत को गुमराह कर रहा है। केजरीवाल ने विधानसभा परिसर में अंबेडकर जयंती कार्यक्रम में हिस्सा लेने के बाद पत्रकारों से आज कहा कि ईडी का कहना है कि पूर्व उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने अपने फोन तोड़ दिए, जबकि उनमें से कई फोन ईडी की ही कस्टडी में है। यह सारा मामला ही झूठा और मनगढ़ंत है। उन्होंने कहा कि ईडी लोगों को प्रताड़ित करके और दबाव डालकर झूठे बयान ले रहा है।आप के राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने संवाददाताओं से कहा, ईडी ने मनीष सिसोदिया को बदनाम करने के लिए फोन नष्ट करने की साजिश रची।

ईडी ने जिन 14 मोबाइल को नष्ट करने की जानकारी दी, उसमें से पांच फोन तो ईडी और सीबीआई ने अपने कब्जे में ले रखे हैं।अन्य फोन मनीष सिसोदिया के घर काम करने वाले लोगों के हैं और वे अब भी मौजूद हैं। यह सच सामने आने के बाद अब भाजपा को माफी मांगनी चाहिए। उन्होंने कोर्ट को गुमराह करने और गलत जानकारी देकर मनीष सिसोदिया की जमानत रद्द करवाने वाले ईडी के अधिकारियों के खिलाफ आपराधिक षड्यंत्र में कार्रवाई की जाए।

उन्होंने ईडी की फर्जी जांच का एक और सच सामने रखा और कहा, इसके बाद भाजपा के नेताओं और प्रवक्ताओं में अगर जरा भी नैतिकता बची है, तो वह टीवी चैनलों पर हाथ जोड़कर देश वासियों के सामने माफी मांगें। भाजपा के प्रवक्ता चिल्ला-चिल्ला कर बोल रहे थे कि मनीष सिसोदिया ने 14 फोन नष्ट कर दिए, जबकि सच्चाई कुछ और ही है। मनीष सिसोदिया को बदनाम करने वाले अधिकारियों को टीवी चौनल पर हाथ जोड़कर माफी मांगनी चाहिए। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा से सवाल करते हुए कहा अगर आपको आम आदमी पार्टी से इतनी ही नफरत है और देखना पसंद नहीं करते हैं, तो अरविंद केजरीवाल, मनीष सिसोदिया और सत्येन्द्र जैन समेत सभी को खुलेआम जहर की पुड़िया दे दें।

आखिर यह नाटक क्यों कर रहे हैं? ईडी की जांच के नाम पर क्यों इतना ड्रामा किया जा रहा है?  सिंह ने कहा, देश के अंदर जांच एजेंसियां न्यायालय को गुमराह कर रही हैं। जब न्यायालय जमानत रद्द कर रहा है तो इसी को आधार बनाया जा रहा है। न्यायालय के जमानत रद्द करने के आदेश में उल्लेखित है कि मनीष सिसोदिया ने 14 फोन नष्ट करके सबूत मिटाए। भाजपा की ईडी मनीष सिसोदिया के घर में काम करने वाले चपरासी, क्लर्क, परिवार और स्टाफ के लोगों का आईएमईआई नंबर बताकर कह रही है कि मनीष सिसोदिया ने फोन नष्ट कर दिए।

अंबेडकर जयंती समारोह, प्रोग्रामों में हिस्सा लिया

अंबेडकर जयंती समारोह, प्रोग्रामों में हिस्सा लिया


जय भीम के नारे नहीं डॉ भीमराव अंबेडकर की कहीं बातों पर अमल करें बहुजन हिताय बहुजन सुखाय: गादरे

जय जय जय भीम के नारे नहीं, फूल माला व आरती नहीं, बल्कि बाबा भीमराव अंबेडकर साहब की विचारधारा पर चलकर दिखाएं बहुजन हिताय बहुजन सुखाय

सत्येंद्र पंवार 

मेरठ। बहुजन मुक्ति पार्टी के प्रदेश उपाध्यक्ष राजुद्दीन गादरे ने 132वीं विश्व रत्न भारत रत्न डॉ. भीमराव अंबेडकर जन्म जयंती समारोह के अवसर पर प्रोग्रामों में हिस्सा लिया। श्री गादरे ने कहा कि बाबा साहब ने विश्व में सर्वाधिक शिक्षा ग्रहण कर दिखला दिया, कि इंसान को मौका मिले तो सब कुछ हासिल कर सकते हैं। जब इंसान को ब्लड की जरूरत होती है, तब तो जान बचाने की चिंता होती है। तब नहीं देखता कि कौन ऊंच है कौन नीची जाति का खून है। हम लोग जाति धर्म को आधार मानकर मानवता क्यों भूल जाते हैं ? बाबा भीमराव अंबेडकर ने अपने जीवन का बलिदान, अपने बच्चों का, अपने परिवार का बलिदान दिया... हम-सब भारतीयों के लिए। इस कुर्बानी को हमें नहीं भूलना चाहिए और हमें ऊंच-नीच का भेदभाव खत्म करने के लिए महामानव आखरी नबी मोहम्मद साहब ने 1445 वर्ष पूर्व कहा था कि जन्म से लेकर मरण तक इल्म शिक्षा हासिल करते रहना चाहिए।

ऐसे ही बाबा भीमराव अंबेडकर ने कहा कि शिक्षा शेरनी का वह दूध है, जो इसे पिएगा वही दहाड़ेगा। हमें समाज को बदलने के लिए खुद को बदलना होगा। हमारे पैरों में जूते भले ही ना हो, लेकिन हमारे हाथों में किताबें होनी चाहिए। आज हम लोग वक्त गप्पे लड़ा कर जीवन व्यतीत कर रहे हैं। आज हमें शिक्षा, बेरोजगारी, महंगाई, अत्याचार 75 साल की आजादी के बाद भी झेलने पड़ रहे हैं। आज भी हम गुलाम से बद्तर क्यों ? डॉ. भीमराव अंबेडकर की 132वीं जयंती पर 2015 से प्रत्येक वर्ष 26 नवंबर को संविधान दिवस मनाया जाता है। इस दिन को राष्ट्रीय विधि दिवस के रूप में मनाया जाता था। डॉ अंबेडकर संविधान सभा की प्रारूप समिति के अध्यक्ष थे।

सभा ने भारतीय संविधान को 2 वर्ष11महीने 18 दिन में लगभग एक करोर रुपये की लागत से इसे तैयार किया था। डॉ राजेन्द्र प्रसाद को संविधान सभा का 16 दिसंबर 1946 को स्थायी अध्यक्ष मनोनीत किया गया था। 26 जनवरी 1950 को देश में लागू किया गया था। विश्व रत्न बोधिसत्व संविधान रचयिता बाबा साहब भीम राव आंबेडकर की जन्म जयंती पर कोटि-कोटि सलाम। यदि आप बाबा साहब डॉ. भीमराव अम्बेडकर को वास्तव में मानते हैं, तो मुझे इस बात से फर्क नहीं पड़ता कि आप उनकी जयंती पर कितना ढोल पीटते हैं या डीजे पर थिरकते हैं या पूरा नीला-नीला कर देते हैं। बल्कि, मायने ये‌ रखेगा कि बाबा साहब के तीन नारें...

 1. शिक्षित करो।

 2. संगठित करो।

 3. संघर्ष करो।

इन पर जमीन पर कितना काम करते हैं।

यदि आप समाजसेवी हैं, या किसी सामाजिक संगठन से जुड़े कार्यकर्ता हैं, या स्वतंत्र समाजसेवी हैं अथवा विद्यार्थी हैं, तो आपका " धर्म" है कि पहले तो आप बाबा साहब की लिखी एक-एक किताब एक-एक जन्मदिन पर पढ़ते चलिए‌। आप स्वयं बहुजन साहित्य पढ़िए और बढ़िया ज्ञान के साथ आपको संघर्ष करने का तरीका, लोगों से मिलने का तरीका, मानवता की रक्षा के उपाय... ये सब कुछ बहुजन साहित्य खासकर बाबा साहब के लिखे ओरिजिनल साहित्य तथा बौद्ध साहित्य से प्राप्त होगा।

कहते हैं, कि समय अनुकूल हो और आप वैभवशाली हों तो दूसरों की ‌मदद कीजिए। लेकिन समय विपरीत हो और आप कुछ न कर पा रहे हों तो "मेहनत‌ कीजिए"। तो आप भी तब तक स्वयं पर मेहनत कीजिए, किताबें पढ़िए बाबा की लिखी हुई और सीधे उन्ही से रू-ब-रू होइए।

अंबेडकर की 132वीं जयंती पर सभा का आयोजन 

अंबेडकर की 132वीं जयंती पर सभा का आयोजन 

संदीप मिश्र 

लखनऊ। शुक्रवार को मंडोला के किसानों द्वारा संविधान निर्माता डॉ. भीमराव अंबेडकर की 132वीं जयंती पर किसान नेता अंशुल त्यागी के आवास पर एक सभा का आयोजन किया गया‌। आयोजक प्रवेश त्यागी ने मुख्य रूप से किसान सत्याग्रह आन्दोलन मंडोला के संयोजक मास्टर महेंद्र त्यागी द्वारा फूल माला व पुष्प अर्पित करके डॉ भीमराव अंबेडकर को श्रद्धांजलि अर्पित की। आयोजक प्रवेश त्यागी व अंशुल त्यागी ने बताया कि किस तरह राजनीतिक दलों द्वारा युवाओं को पद, पैसों और सम्मान का लालच देकर मुख्य मुद्दों से भटकाया जा रहा है।

युवा पीढ़ी अपने हक की लड़ाई छोड़कर राजनीतिक पार्टियों के एजेंडों को पूरा करने के लिए गैर संवैधानिक कार्य कर रहे हैं। किसान सत्याग्रह आंदोलन के संयोजक मास्टर महेन्द्र त्यागी ने बताया कि हिन्दू राष्ट्र बनाने की आड़ में अन्य पिछड़ा वर्ग,एससी/एसटी और अल्पसंख्यक जाति के लोगों को बरगलाया जा रहा है और हिंसक बनाया जा रहा है। किसान, रोजगार, महंगाई, भ्रष्टाचार, काला धन और अन्य जनहित के मुद्दों को नजरअंदाज कर समाज में जहर घोलकर देश को गृहयुद्ध की और धकेला जा रहा है। श्री श्याम सिंह मेमोरियल इंटर कालेज के प्रबंधक जुगेंद्र त्यागी ने बच्चों और युवा पीढ़ी से डॉ. भीमराव अंबेडकर जैसा पढ़ने व उनके आदर्शों पर चलने की अपील की।

आम आदमी पार्टी के श्रम प्रकोष्ठ के जिलाध्यक्ष नवीन गुप्ता ने कहा कि किसी भी राजनीतिक दल के एजेंडे में खुद का इस्तेमाल न होने दे, जो आपके और आपके बच्चों के भविष्य में शिक्षा, स्वास्थ्य, रोजगार और परिवार व देश की तरक्की का ख्याल रखें। उसका साथ दे, न कि पूंजीपतियों के लिये कार्य करने वाले लोगों का। उन्होने बताया कि किस तरह कुछ पूंजीपतियों को लाभ पहुंचाने के लिए हिटलर शाही के दम पर संवैधानिक संस्थाओं का दुरुपयोग करते हुए संविधान को बदलकर अदालतों, जजों और कॉलेजियम सिस्टम पर अपना आधिपत्य जमाने का प्रयास किया जा रहा है।

सरकार की कार्यशैली पर सवाल करने वाले देशभक्तों को जेल में डाला जा रहा है व देशद्रोही, अपराधी व किसान मजदूर विरोधियों को सम्मान दिया जा रहा है। सभा की अध्यक्षता आर डी त्यागी ने एवं संचालन मास्टर मनीष कुमार ने की। व सभा में मुख्य रूप से अमित त्यागी समाज सेवी, श्याम त्यागी, संजीव, रवि पंचलोक व मिंटू पंचलोक, कमल गहलोत, सचिन जाटव आदि उपस्थित रहे।

भारत के साथ कारोबार, उद्यमियों को प्रोत्साहित किया 

भारत के साथ कारोबार, उद्यमियों को प्रोत्साहित किया 

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री पीयूष गोयल ने इटली की अपनी यात्रा में वहां के उद्यमियों को भारत के साथ कारोबार के लिए प्रोत्साहित करते हुए कहा कि देश इस समय निवेश के लिए विश्व के सबसे विश्वसनीय बाजारों में से एक है और यहां अनेकानेक अवसरों की भरमार है। श्री गोयल के पास उपभोक्ता मामले, खाद्य और सार्वजनिक वितरण तथा वस्त्र मंत्रालय का भी प्रभार है। गोयल ने रोम में गुरुवार को कंपनियों के मुख्य कार्यकारियों के सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि भारत एक खुली अर्थव्यवस्था है और वैश्विक स्तर पर उसके संपर्क हैं। भारत यूरोपीय संघ के बीच मुक्त समझौते की वार्ता चल रही है। गोयल ने भारत-इटली की भागीदारी के लक्ष्य ऊंचे होने चाहिए क्योंकि हाल में इसको रणनीतिक स्तर की भागीदारी का रूप दिए जाने से इसके लिए अब नयी नयी संभावनाएं बनी हैं।

वाणिज्य मंत्री ने वहां बताया कि किस तरह भारत का वैश्विक बाजारों के साथ कारोबार फैल रहा है और पिछले दो साल में देश के कुल निर्यात में 55 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। उन्होंने कहा कि इस समय भारत में इटली की करीब 700 कंपनियां काम कर रही है। भारत में कारोबार जमाने का यह सबसे अच्छा समय है। मंत्री ने कहा कि भारत कारोबार के लिए मजबूत भविष्योन्मुखी नीतियां प्रस्तुत करेगा जिसमें आवश्यकतानुसार पिछली तिथि से प्रभावी सुधार किए जा सकते हैं। इस कार्यक्रम में इटली के उप-प्रधानमंत्री और व्यापार मंत्री एंटोनियो तजानी ने भी भाग लिया और कहा कि दोनों देशों के बीच भविष्य की एक अच्छी राह बनाने और उस पर सूक्ष्म, लघु और मझोली इकाइयों को प्रोत्साहित करने की जरूरत है‌।

रोम में सीईओ बिजनेस इंटरएक्टिव सत्र का आयोजन भारतीय उद्योग परिसंघ (सीआईआई) और कॉन्फिंडस्ट्रिया के सहयोग से रोम, इटली में भारत के दूतावास द्वारा किया गया था। इस सत्र में भारतीय और इतालवी कंपनियों के 70 से अधिक सीईओ ने भाग लिया। 

20 अप्रैल को लगेगा साल का पहला 'सूर्य ग्रहण'

20 अप्रैल को लगेगा साल का पहला 'सूर्य ग्रहण'

सरस्वती उपाध्याय 

20 अप्रैल को साल का पहला सूर्य ग्रहण लगने जा रहा है। यह सूर्य ग्रहण मेष राशि और अश्वनी नक्षत्र में लगने जा रहा है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, इस सूर्य ग्रहण पर ग्रहों का बेहद खास संयोग बनेगा। दरअसल, मंगल के मिथुन में और बुध के मेष राशि में होने से अशुभ योग बन रहे हैं। वैदिक ज्योतिष के मुताबिक, मंगल मेष राशि और बुध ग्रह मिथुन राशि का स्वामी है। वहीं, सूर्यग्रहण के समय सूर्य अपनी उच्च राशि मेष में राहु और बुध के साथ होंगे‌। बुध के मेष और मंगल के मिथुन राशि में होने की वजह से राशि परिवर्तन योग बन रहा है। जिसका असर कुछ राशियों पर नकारात्मक पड़ेगा और कुछ राशियों पर सकारात्मक। आइए जानते हैं कि इस सूर्य ग्रहण में राशि परिवर्तन योग से किन राशियों को सावधान रहना होगा ?

1. मेष...

मेष राशि वालों को इस राशि परिवर्तन बेहद अशुभ परिणाम प्राप्त हो सकते हैं। आत्मविश्वास में कमी आ सकती है। कानूनी मामलों में फंस सकते हैं। कारोबार से जुड़े लोगों को नुकसान उठाना पड़ सकता है‌। अगर आप किसी निवेश के बारे में सोच रहे हैं, तो अभी ना करें। रिश्तों में कुछ उतार-चढ़ाव आ सकते हैं‌। अनावश्यक खर्चों पर लगाम लगाने की जरूरत है।

2. वृष...

वृष राशि वालों के लिए यह राशि परिवर्तन अच्छा नहीं है। आपको इच्छानुसार परिणाम मिलने में दिक्कत आ सकती है। आत्मविश्वास की कमी होगी और आप भविष्य के बारे में सोचकर परेशान हो सकते हैं‌। कार्य स्थल पर किसी से झगड़ा हो सकता है‌। अपने गुस्से पर काबू रखें। यात्रा या निवेश करने के लिए भी यह सही समय नहीं है। पैसा कमाने के लिए कोई भी शार्टकट अपनाना भारी पड़ सकता है।

3. कन्या...

कन्या राशि के जातकों के लिए सूर्य ग्रहण राशि परिवर्तन अशुभ साबित हो सकता है‌। इसे लेकर आप मानिसक तौर पर परेशान रहेंगे। घर का माहौल भी इस दौरान खराब हो सकता है‌। परिवार के लोगों के साथ आपका मनमुटाव हो सकता है। अगर घर में सुख-शांति चाहते हैं, तो अपना व्यवहार सुधारने की कोशिश करें। जीवनसाथी के साथ छोटे-छोटे मुद्दों पर लड़ाई हो सकती है। काम का बोझ बढ़ने से परेशान होंगे।

4. तुला...

कार्यक्षेत्र में कुछ बदलाव या स्थानांतरण का सामना करना पड़ सकता है। बिजनेस पार्टनर से कुछ मतभेद हो सकती है। किसी भी तरह के निवेश के लिए ये समय उचित नहीं है। अचल संपत्ति या पैतृक संपत्ति से संबंधित मामलों में अचानक लाभ मिल सकता है‌। विवाहित लोगों को अपने जीवनसाथी के सेहत पर ध्यान देना होगा। सेहत के लिहाज से ये गोचर शुभ नहीं रहेगा। आपको आंख और दांतों से जुड़ी कोई समस्या हो सकती है।

5. मकर...

इसका प्रभाव इस राशि के जातकों की सेहत पर पड़ सकता है। आपको सिरदर्द, आंखों की रोशनी, सर्दी और खांसी से जुड़ी समस्याएं हो सकती हैं। इस दौरान अपनी सेहत पर विशेष ध्यान दें। किसी भी समस्या को टालने की बजाय डॉक्टर से संपर्क करें। कार्यक्षेत्र में थकान और सुस्ती महसूस कर सकते हैं। ध्यान केंद्रित करने में दिक्कत हो सकती है।

चेयरमैन पद के उम्मीदवारों की घोषणा: आप

चेयरमैन पद के उम्मीदवारों की घोषणा: आप

संदीप मिश्र 

लखनऊ/संभल। आम आदमी पार्टी ने चार निकाय के चेयरमैन पद के उम्मीदवारों की घोषणा कर दी है। रुहेलखंड जोन के अध्यक्ष मोहम्मद हैदर ने इनकी घोषणा की। गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश में स्थानीय निकाय के चुनाव चल रहे हैं। नामांकन प्रक्रिया के दौरान आम आदमी पार्टी ने संभल जनपद में चेयरमैन पद के चार प्रत्याशियों की घोषणा कर दी है।

इनमें से संभल नगर पालिका से फिजा खानम, नगर पालिका परिषद से मुकेश कुमार, नगर पंचायत गुन्नौर से भगवान देई व नगर पंचायत बवराला से अरविंद कुमार को अपना प्रत्याशी बनाया है।

हैरतअंगेज: गंदी चीजें बेचकर पैसे कमाती है 'महिला'

हैरतअंगेज: गंदी चीजें बेचकर पैसे कमाती है 'महिला'

डॉक्टर सुभाषचंद्र गहलोत 

वाशिंगटन डीसी। हम सभी कान का मैल निकालकर और नाखून काटकर फेंक देते हैं। लेकिन क्या आपने सोचा है कि कोई कान का मैल और नाखून बेचकर मालामाल भी हो सकता है ? इन दिनों सोशल मीडिया पर एक ऐसा मामला सामने आया है, जिसे सुनकर आप भी हैरान रह जाएंगे। जीं हां, कुछ लोग इस गंदगी से पैसे कमा रहे हैं।

दरअसल, एक महिला ऐसी है, जो कान का मैल और पैरों के नाखून बेचकर मालामाल हो रही है। रिपोर्ट के अनुसार, इस महिला का नाम रेबेका ब्लू बताया जा रहा है, जो कि अमेरिका के उत्‍तरी कैरोलिना की रहने वाली हैं। जो अपने पैर की उंगलियों के नाखून, कान का मैले और दूसरी तमाम गंदी चीजें बेचकर पैसे कमा रही हैं। वहीं इसके साथ ही वह टिकटॉक पर वह अन्‍य मह‍िलाओं को भी यह टिप्‍स दे रही है। टिकटॉक पर उन्होंने यह वीडियो शेयर किया है, जिसे देखने के बाद लोग हैरत में हैं।

रिपोर्ट के मुताबिक, इन्फ्लुएंसर रेबेका ब्लू इन वजहों से इंटरनेट पर सुर्खियों में बनी हुई हैं। उनकी मानें तो कुछ भी बेकार नहीं है, सब कुछ मूल्‍यवान है। बस आपको उसकी कीमत लगानी आनी चाह‍िए। वह अपनी स्‍क‍िन की सफाई से निकली गंदगी, पैरों के नाखूनों की कतरन, वैक्‍यूम धूल, कानों की वैक्‍स आद‍ि बेच रही है, जिससे वह हर महीने 2 हजार डॉलर यानी की तकरीबन 1.63 लाख रुपये कमाने का दावा कर रही हैं।  

बता दें कि रेबेका के टिकटॉक पर 351,100 फॉलोअर्स हैं, जिन्हें वह कई तरह की टिप्स देती रहती हैं। वहीं फॉलोअर्स भी उनके द्वारा बताई गई टिप्स को फॉलो करते रहते हैं। हाल ही के एक वीडियो में  रेबेका ब्लू ने इस बात का खुलासा किया है कि, उन्होंने अपने पैर के नाखूनों की कतरनों का एक सेट 300 डॉलर में बेचा था।

कुछ नागरिकों को मुफ्त तीर्थयात्रा पर ले जाएंगे 

कुछ नागरिकों को मुफ्त तीर्थयात्रा पर ले जाएंगे 

मनोज सिंह ठाकुर 

भोपाल। मध्य प्रदेश की शिवराज सिंह चौहान सरकार अपनी मौजूदा ‘‘ मुख्यमंत्री तीर्थदर्शन योजना ’’ के तहत प्रदेश के कुछ वरिष्ठ नागरिकों को मुफ्त तीर्थयात्रा पर हवाई मार्ग से भी ले जाएंगी। भाजपा शासित मध्य प्रदेश में यह कवायद विधानसभा चुनाव से कुछ माह पहले 21 मई से शुरु होगी। मध्य प्रदेश में 230 सदस्यीय विधानसभा के चुनाव इस साल के अंत तक होने हैं। अपर मुख्य सचिव (एसीएस) गृह डॉ. राजेश राजोरा ने शुक्रवार को कहा, एक अधिकारी ने कहा कि हवाई मार्ग से तीर्थयात्रा भी जून, 2012 में शुरू हुई 'मुख्यमंत्री तीर्थदर्शन योजना' का ही हिस्सा होगी। राजोरा ने कहा ‘‘ इस योजना के तहत नए कार्यक्रम के अनुसार, 25 जिलों (राज्य में कुल 52 में से) के पात्र लाभार्थियों को 21 मई से 19 जुलाई के बीच हवाई जहाज से विभिन्न गंतव्यों की तीर्थ यात्रा पर ले जाया जाएगा।" 

उन्होंने कहा कि लाभार्थी उन्हें आवंटित विभिन्न गंतव्यों के लिए प्रयागराज, शिरडी, मथुरा-वृंदावन और गंगासागर की तीर्थ यात्रा करने में सक्षम होंगे। उन्होंने कहा कि यह योजना भारतीय रेलवे खानपान और पर्यटन निगम (आईआरसीटीसी) की मदद से लागू की जाएगी।प्रत्येक जिले के लिए कुल 33 सीटें आरक्षित होंगी। इनमें से 32 सीटें लाभार्थियों की होंगी और प्रत्येक उड़ान में एक सीट एस्कॉर्ट ऑफिसर के लिए होगी। 

उन्होंने कहा कि आईआरसीटीसी द्वारा नामित एक टूर मैनेजर भी योजना के लाभार्थियों के साथ जाएगा। चौहान सरकार की इस फ्लैगशिप योजना के तहत अभी तक हितग्राहियों को ट्रेनों से तीर्थ यात्रा पर ले जाया जाता था। उन्होंने कहा कि योजना का लाभ उठाने के लिए, लाभार्थियों की आयु 65 वर्ष और उससे अधिक होनी चाहिए, और आयकर दाता नहीं होना चाहिए। योजना के अनुसार योजना के तहत उड़ानें 21 मई से संचालित होने लगेंगी। 

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन



प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण


1. अंक-183, (वर्ष-06)

2. शनिवार, अप्रैल 15, 2023

3. शक-1944, बैशाख, कृष्ण-पक्ष, तिथि-दसमीं, विक्रमी सवंत-2079‌‌।

4. सूर्योदय प्रातः 06:40, सूर्यास्त: 06:23। 

5. न्‍यूनतम तापमान- 25 डी.सै., अधिकतम- 33+ डी.सै.।

6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है। 

7.स्वामी, मुद्रक, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम व शिवांशु  (विशेष संपादक) श्रीराम व सरस्वती (सहायक संपादक) संरक्षण-अखिलेश पांडेय, ओमवीर सिंह, वीरसैन पंवार, योगेश चौधरी आदि के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी।

8. संपर्क व व्यवसायिक कार्यालय- चैंबर नं. 27, प्रथम तल, रामेश्वर पार्क, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102। 

9. पंजीकृत कार्यालयः 263, सरस्वती विहार लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102

http://www.universalexpress.page/ www.universalexpress.in 

email:universalexpress.editor@gmail.com 

संपर्क सूत्र :- +919350302745--केवल व्हाट्सएप पर संपर्क करें, 9718339011 फोन करें।

(सर्वाधिकार सुरक्षित)

चीन ने तरीके नहीं बदले, परिणाम भुगतना होगा

चीन ने तरीके नहीं बदले, परिणाम भुगतना होगा अखिलेश पांडेय  ब्रुसेल्स। नाटो के प्रमुख जेन्स स्टोलटेनबर्ग ने कहा है कि चीन यूक्रेन के खिलाफ रूस...