मंगलवार, 5 मई 2020

मानवता संकट से गुजर रही हैंः पीएम

गुटनिरपेक्ष आंदोलन' शिखर सम्मेलन में प्रधानमंत्री ने क्या कहा


नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से 'गुटनिरपेक्ष आंदोलन' शिखर सम्मेलन को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि आज मानवता दशकों के सबसे गंभीर संकट से गुजर रही है। ऐसे वक्त में गुट निरपेक्ष आंदोलन दुनिया को एकसाथ आने को बढ़ावा दे सकता है।


गुट निरपेक्ष आंदोलन दुनिया की सबसे नैतिक आवाज रही है। इस भूमिका को बनाए रखने के लिए गुट निरपेक्ष आंदोलन को समावेशी होना होगा। इस संकट के दौरान हमने दिखाया है कि एक वास्तविक जन आंदोलन बनाने के लिए लोकतंत्र, अनुशासन और निर्णायकता एक साथ कैसे आ सकते हैं। भारतीय सभ्यता पूरी दुनिया को एक परिवार के रूप में देखती है। जब हम अपने नागरिकों की देखभाल करते हैं, तो हम अन्य देशों को भी मदद दे रहे हैं। पीएम मोदी ने कहा अपनी जरूरतों के बावजूद, हमने अपने 123 पार्टनर देशों को चिकित्सा आपूर्ति सुनिश्चित की है, जिसमें गुटनिरपेक्ष आंदोलन के 59 सदस्य शामिल हैं। हम उपचार और टीके विकसित करने के वैश्विक प्रयासों में सक्रिय हैं। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि जब दुनिया कोरोना से लड़ रही है, तब भी कुछ लोग समुदायों और देशों को विभाजित करने के लिए कुछ अन्य घातक वायरस जैसे आतंकवाद, फर्जी समाचार और डॉक्टर्ड वीडियो फैलाने में व्यस्त हैं। कोरोना ने हमें मौजूदा अंतरराष्ट्रीय प्रणाली की सीमा दिखाई है। कोरोना के बाद, दुनिया में हमें निष्पक्षता, समानता और मानवता पर आधारित वैश्वीकरण के एक नए टेम्पलेट की आवश्यकता है। हमें ऐसे अंतराष्ट्रीय संस्थानों की जरूरत है, जो आज की दुनिया के प्रतिनिधि हों।


श्रीलंकाः नौसेना में भी फैला संक्रमण

कोलंबो। कोरोना वायरस का संक्रमण अब नौसैनिकों में भी फैलने लगा है। श्रीलंका में कोरोना वायरस से संक्रमित जिन 548 लोगों का इलाज जारी है, उनमें से 327 नौसैन्य कर्मी और अधिकारी हैं। अधिकारियों ने बताया कि इनके 1,008 रिश्तेदारों को अलग भी किया गया है। द्वीपीय राष्ट्र में अभी तक कोविड-19 के कुल 700,552 मामले सामने आए हैं और 13,689 लोगों की जाने गई है।


नौसैनिकों के छुट्टियों पर जाने के कारण और फैला संक्रमण
श्रीलंका में कोविड-19 (COVID-19) रोकथाम प्रणाली के प्रमुख और सेना प्रमुख जनरल शिवेन्द्र सिल्वा ने मंगलवार को कहा, 'सोमवार देर रात को देश में 33 नए मामले सामने आए है। इनमें से 31 नौसैनिक हैं, जिनका नाता वेलिसारा शिविर से है। अन्य दो इनके सम्पर्क में आने से संक्रमित हुए हैं।


ऐसा संदेह है कि कोलंबो के पास वेलिसारा शिविर के अधिकारी छापेमारी के दौरान एक मादक पदार्थ तस्कर के सम्पर्क में आए जो वायरस से संक्रमित था और इस कारण यहां वायरस फैल गया। नौसैनिकों के छुट्टियों पर जाने के कारण वायरस और फैला. सिल्वा ने बताया कि मध्य मार्च से 752 मामले सामने आए हैं। इनमें से 194 को इलाज के बाद अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है। सेना प्रमुख ने बताया कि नौसेना कर्मियों के 1,008 रिश्तेदारों को अलग किया गया है। वहीं उत्तर पश्चिमी क्षेत्र कुरुनेगला में सोमवार को 72 वर्षीय संक्रमित महिला की मौत हो गई। यह महिला भी एक संक्रमित नौसैनिक की रिश्तेदार थी। इस बीच राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे ने गुट निरपेक्ष आंदोलन (नैम) के ऑनलाइन शिखर सम्मेलन में कहा कि पोलीमरेज़ चेन रिएक्शन (पीसीआर) परीक्षणों में केवल तीन प्रतिशत लोग संक्रमित मिले हैं और श्रीलंका में कोविड-19 की मृत्यु दर भी एक प्रतिशत से कम है। नैम 120 विकासशील देशों का समूह है। उन्होंने कहा कि वह आर्थिक गतिविधियां बहाल करने के लिए स्वास्थ्य संबंधी दिशानिर्देश जारी रखते हुए कुछ ढील देना चाहते हैं। चीन के वुहान शहर से पिछले साल कोरोना वायरस का प्रसार शुरू हुआ था और दुनिया भर करीब 35 लाख लोग इस वायरस से संक्रमित हैं और 2,50,000 लोगों की इससे जान जा चुकी है।


'भारतीयों को वापस लाएगी सरकार'

कोरोना लॉकडाउन की वजह से विदेशों में फंसे भारतीयों को वापस लाएगी सरकार


नई दिल्ली। कोरोना लॉकडाउन की वजह से विदेशों में फंसे भारतीयों को वापस लाएगी सरकार। केंद्र सरकार ने विमान और नेवी शिप के जरिए विदेशों से भारतीयों को निकालने को मंजूरी दी। विदेशों में फंसे भारतीयों को निकालने के लिए स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रोटोकॉल तैयार किया गया है। भारत के हाई कमिशन और दूतावास फंसे हुए भारतीयों की लिस्ट तैयार कर रहे हैं। यह सुविधा पेमेंट के आधार पर होगी और कमर्शियल फ्लाइट्स उपलब्ध कराए जाएंगे। सात मई से कई चरणों में लोगों को निकाला जाएगा।


अहमदाबाद में प्रवासी श्रमिकों के लिए हेल्पलाइन नंबर
अहमदाबाद में प्रवासी श्रमिकों के लिए हेल्पलाइन नंबर 18002339008 और 07926440626 जारी किए गए हैं।


डिस्टेंसिंग की दुसरे दिन भी उडी़ धज्जियां

राजेन्द्र सिंह, अतुल त्यागी


दूसरे दिन भी शराब के ठेकों पर रही लंबी लाइन 
लॉक डाउन के आदेशों की धज्जियां उड़ा रहा है।


हापुड़, जनपद हापुड़ में आज शराब की दुकानों पर भीड़ देखने को मिली जहां लोग राशन के लिए परेशान है वहीं कुछ लोग सिर्फ और सिर्फ शराब के लिए परेशान है क्या शराब के ऊपर लॉक डाउन  का आदेश कोई मायने नहीं रखता कि जब चाहे तब यह लोग जाकर शराब लाएं और पिए। शासन प्रशासन को इस तरफ गंभीरता से सोचना होगा क्योंकि यदि यही हाल रहा तो वह दिन दूर नहीं  जब कोरोना के मरीजों की संख्या दिन दुगुनी और रात चौगुनी पहुंचेगी क्योंकि यदि एक आदमी शराब लाएगा तो यह निश्चित है उसके साथी मिलकर जरूर पिएंगे यदि उन चारों में से किसी एक को भी कोरोना हुआ तो वह जाने कितने लोगों ने कोरोना पॉजिटिव करेगा। मनुष्य के आवश्यकता की सभी चीजें खोलने का एक निश्चित टाइम है 7:00 से 10:00 लेकिन शराब का ठेका सुबह 10:00 से शाम 7:00 बजे तक खुलेगा यानी ठेके पर दारू लेने के लिए इस लॉक डाउन  टाइम में कोई भी कभी भी जा सकता है तो वह पुलिस वालों से क्या कहेगा कि शराब लेने के लिए जा रहा हूं और क्या शराबियों को छूट है कि वह लॉक डाउन में जाकर शराब ला सकते हैं शासन खुद ही लॉक डाउन के आदेश की धज्जियां उड़ा रहा है।


समिति द्वारा 30 जरूरतमंद को सामग्री

श्री राम भक्त सेवा समिति द्वारा 30 जरूरतमंद लोगों को दी गई खाद्य सामग्री


कोरोना वायरस से बचाव के लिए लोगों को मास्क भी दिए गए


फतेहपुर। कोरोना वायरस से बचाव के लिए लॉक डाउन की स्थिति चल रही है. ऐसे में समाजसेवियों द्वारा जरूरतमंद लोगों को खाद्य सामग्री देने का क्रम जारी है। इसी क्रम में श्री राम भक्त सेवा समिति के लोगों द्वारा 30 जरूरतमंद लोगों को खाद्य सामग्री दी गई साथ में सभी लोगों को मास्क भी दिए गए।


नगर के कुंवरपुर रोड स्थित प्रधानमंत्री कौशल प्रशिक्षण केंद्र में श्री राम भक्त सेवा समिति द्वारा कोरोनावायरस से बचाव के लिए चल रहे लॉक डाउन में लोगों के सामने खाने पीने की समस्या को देखते हुए 30 जरूरतमंद लोगों को खाद्य सामग्री दी गई प्रत्येक प्रति को आटा दाल चावल नमक चीनी तेल तथा हरी सब्जी भी दी गई इसके अलावा प्रत्येक व्यक्ति को मास्क भी दिए गए ताकि कोरोनावायरस संक्रमण से बचाव हो सके इस मौके पर श्री राम भक्त सेवा समिति के अध्यक्ष ओम जी हिन्दू ने कहा कि प्रत्येक जरूरतमंद लोगों को लगातार खाद्य सामग्री देने का काम किया जा रहा है ताकि किसी परिवार के सामने भोजन का संकट न हो इस मौके पर हरि गुप्ता कपिल कुमार हर्षित शिवम प्रशांत दिलीप सुनील राहुल दीनू शुभम बराती दाल तथा मनीष कुमार आदि मौजूद रहे।


तेज आंधी-वर्षा के चलते 'लोग परेशान'

तेज आंधी पानी के चलते लोग हुए परेशान


जनजीवन हुआ अस्त व्यस्त


फतेहपुर। कोरोना वायरस संक्रमण को लेकर पहले से ही लोग परेशान हैं। ऊपर से देवी आपदा बेमौसम बारिश से लोग बेहाल हो रहे हैं। तेज आंधी के साथ भारी बारिश के कारण लोग बेहाल हुए जनजीवन अस्त-व्यस्त हुआ।


कोरोना वायरस संक्रमण के चलते पिछले डेढ़ माह से वैसे भी लोग परेशान हैं लॉक डाउन स्थिति चल रही है। लोग घरों से नहीं निकल पा रहे सभी कामकाज ठप है। वहीं दूसरी ओर तेज आंधी पानी के चलते किसान से लेकर सभी लोग परेशान हैं पिछले दिनों भारी ओलावृष्टि भी हुई। फसलों का नुकसान हुआ वहीं एक बार फिर मंगलवार की शाम को तेज आंधी के साथ भारी बारिश हुई जिसके चलते जीवन अस्त-व्यस्त हुआ नगर के कई स्थानों पर जलभराव हुआ वही अभी भी समान किसानों की फसलें खेतों में है। जिससे किसानों का भी नुकसान हुआ नगर के अलावा क्षेत्र में तमाम स्थानों पर पेड़ टूटकर रास्तों में गिर गए जिससे आवागमन भी बाधित रहा बिजली के तार और खंभे भी टूटे जिसके चलते कई स्थानों पर विद्युत आपूर्ति बाधित हुई है।


दुनिया-भर में 2,50,380 लोगों की मौत

ब्रासीलिया। ब्राजील में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस (COVID-19) के 4,075 नए मामले सामने आए हैं और 263 लोगों की मौत हो गई है। देश के स्वास्थ्य मंत्री ने इस की जानकारी दी। समाचार एजेंसी रायटर्स के अनुसार देश में 1,05,222 मामले सामने आ गए हैं और 7,288 लोगों की मौत हो गई है। 


दुनियाभर में कोरोना वायरस (COVID-19)के 35,89,078 मामले सामने आ गए हैं इनमें से 2,50,380 लोगों की मौत हो गई है और 11,14,577 लोग ठीक हो गए हैं। रायटर्स के अनुसार 5 मई 2020 सुबह 7.30 बजे तक सबसे ज्यादा यूरोप में 14,55,378 मामले सामने आ गए हैं। एशिया में 2,45,611 मामले सामने आ गए हैं। भारत से हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन (HCQ) की 50 लाख गोलियों की पहली खेप टोरंटो पहुंच गई है। कनाडा के टोरंटो में भारत के महावाणिज्य दूतावास ने इसकी जानकारी दी। दूतावास ने कहा कि इन महत्वपूर्ण समय में भारत-कनाडा का सहयोग जारी है।


ब्रिटेन में 32 हजार से ज्यादा मौतें

लंदन। कोरोना वायरस (COVID-19) के कारण ब्रिटेन में 32,000 से ज्यादो लोगों की मौत हो गई है। समाचार एजेंसी रायटर्स के अनुसार मंगलवार को जारी आंकड़ों के बाद यूरोप में वायरस से किसी देश में सबसे ज्यादा 32,313 मौतें हुई है। इस मामले में उसने इटली को पीछे छोड़ दिया है।


रूस में लगातार तीसरे दिन कोरोना वायरस (COVID-19)के 10 हजार से ज्यादा मामले सामने आए हैं। देश में अब तक 1,55,370 मामले सामने आ गए हैं और 1,451 लोगों की मौत हो गई है। पिछले 24 घंटे में 10,102 मामले सामने आए और 95 लोगों की मौत हो गई है। सोमवार को 10,581 मामले और इससे एक दिन पहले 10,633 मामले सामने आए थे।


भारतः 24 घंटे में 2553 नए मरीज

स्वास्थ्य मंत्रालय ने क्या-क्या कहा


देश में अब तक कोरोना के 42, 533 मरीज। देशभर में कोरोना के 29453 सक्रिय मामले। पिछले 24 घंटे में कोरोना के 2553 नए मरीज मिले। देश में कोरोना के 11707 मरीज ठीक हुए। कोरोना से रिकवरी रेट 27 फीसदी से ज्यादा। 24 घंटे में कोरोना के 1074 लोग ठीक हुए। सोशल डिस्टेंसिंग लगातार बनाए रखें।


राज्य सरकारों की मांग के अनुसार फंसे प्रवासी मजदूरों को भेजा जा रहा। इसका 85 फीसदी खर्च रेलवे और 15 फीसदी राज्य को वहन करना होता है। सावधान, सजग और सतर्क रहने की जरूरत। सार्वजनिक स्थानों पर फेस मास्क का इस्तेमाल करें। जरूरी सामान खरीदते वक्त भी भीड़ से बचें।

गृह मंत्रालय ने क्या-क्या कहाः कोरोना से बचने के लिए सावधानी जरूरी। लॉकडाउन बढ़ाने के आदेश के साथ नई गाइडलाइंस सभी जोन में कुछ पांबदी तो कुछ छूट दी गई है। कुछ गतिविधियों पर देशव्यापी रोक जारी रहेगी। लॉकाडाउन तीन में देश को तीन जोन मं बांटा गया है। लोगों की आवाजाही पर शाम सात बजे से सुबह सात बचे तक रोक। कंटेनमेंट जोन में किसी भी तरह के काम पर रोक
स्कूल, कॉलेज और मॉल बंद रहेंगे। रेड जोन रिक्शा, टैक्सी और ऑटो पर रोक। रेड जोन में ई-कॉमर्स जरूरी सामान के लिए। नाई की दुकान, सैलून और स्पा बंद रहेंगे। रेड जोन में बसें नहीं चलेंगी।


केरल में कुल पॉजिटिव केस 499

तिरुवंतपुरम। केरल में आज कोरोना का एक भी केस नहीं
केरल में आज एक भी केस सामने नहीं आया है। यहां कुल पॉजिटिव मामले 499 हैं, जिनमें 34 सक्रिय हैं: केरल के सीएम पिनाराई विजयन।


कोलकाता में इंटर-मिनिस्ट्रियल सेंट्रल टीम (IMCT) के काफिले के लिए एस्कॉर्ट कार चलाने वाले बीएसएफ ड्राइवर को कोरोना पॉजिटिव पाया गया है। ड्राइवर को 30 अप्रैल को तुरंत हटा दिया गया और उसे क्वारंटीन किया गया। उसके संपर्क में आए 50 जवानों को भी क्वारंटीन किया गया। बीएसएफ ड्राइवर जिसे कोरोना पॉजिटिव पाया गया है, वह एक एस्कॉर्ट वाहन में था इसलिए उसके IMCT टीम के संपर्क में आने की संभावना शून्य है: बीएसएफ के सूत्र 
चंडीगढ़ में पांच नए मामले रिपोर्ट किए गए
चंडीगढ़ में पांच नए मामले रिपोर्ट किए गए। कुल पॉजिटिव मामलों की संख्या 102 हो गई: चंडीगढ़ स्वास्थ्य विभाग। पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने गृह मंत्री अमित शाह को लिखा पत्र। पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को पत्र लिखकर पंजाब में फंसे प्रवासी मजदूरों को उनके गृह राज्यों तक पहुंचाने के लिए 5 मई से शुरू होने वाले अगले 10-15 दिनों के लिए विशेष ट्रेनों की व्यवस्था करने की मांग की है। शराब की दुकान के बाहर सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ा रहे लोग। आंध्र प्रदेश के चित्तूर में शराब की दुकान के बाहर लगी लंबी लाइन। लोग यहां सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ा रहे हैं।


जम्मू एंड कश्मीर में 25 नए केस दर्ज

श्रीनगर। जम्मू और कश्मीर में 25 नए मामले दर्ज। जम्मू और कश्मीर में 25 नए मामले दर्ज किए गए। आज जम्मू से 1 और कश्मीर से 24 मामले मिले हैं। केंद्र शासित प्रदेश में कुल मामले 726 हैं, जिनमें 415 सक्रिय मामले शामिल हैं: सूचना और जनसंपर्क विभाग, जम्मू और कश्मीर सरकार।


हरियाणा में 75 और लोग हुए संक्रमितः हरियाणा में 75 और लोगों को कोरोना पॉजिटिव पाया गया है। यहां कुल मामलों की संख्या 517 हो गई है: राज्य स्वास्थ्य विभाग। पंजाब में आज कोरोना के 132 नए केसः पंजाब में आज कोरोना के 132 नए केस रिपोर्ट किए गए। इसी के साथ संक्रमित मरीजों की कुल संख्या 1232 हो गई है। संक्रमण के कारण 23 लोगों की मौत हो गई है। फिलहाल, राज्य में तीन मरीज वेंटिलेटर पर हैं: राज्य स्वास्थ्य विभाग। हिमाचल प्रदेश में सिर्फ दो सक्रिय मामलेः हिमाचल प्रदेश में सक्रिय कोरोना मामलों की संख्या एक से बढ़कर दो हो गई है। आज मंडी जिले में एक व्यक्ति को कोरोना पॉजिटिव पाया गया। राज्य में अब तक कुल 40 लोग पॉजिटिव मिल चुके हैं। एक की बीमारी के कारण मौत हो गई है: राज्य स्वास्थ्य विभाग


पश्चिम बंगाल में पिछले 24 घंटे में 61 नए मामले, 11 की मौत। पश्चिम बंगाल में आज 61 मामले रिपोर्ट किए गए। इसी के साथ राज्य में कुल मामलों की संख्या 1259 हो गई है। पिछले 24 घंटे में 11 मौतें हुई हैं। इस बात की जानकारी राज्य के मुख्य सचिव राजीव सिन्हा। ओडिशा सरकार ने बसों को चलाने की अनुमति के आदेश को संशोधित किया। ओडिशा सरकार ने ग्रीन जोन में अंतर जिला और अंतर जिले में बसों को चलाने की अनुमति के आदेश को संशोधित किया है। बसों में यात्रियों की क्षमता के 50 प्रतिशत तक ही अनुमति होगी।


झारखंड में संक्रमितों की संख्या-115

रांची। झारखंड में लगातार दूसरे दिन कोई केस नहींः लगातार दूसरे दिन झारखंड से कोरोना का कोई मामला सामने नहीं आया। राज्य में संक्रमित मरीजों की संख्या 115 है, जिनमें 85 मामले सक्रिय हैं और 27 लोग ठीक हो गए हैं: राज्य स्वास्थ्य विभाग।


कर्नाटक में पहले दिन रिकॉर्ड 45 करोड़ रुपये की शराब की बिक्री हुई।


कर्नाटक आबकारी विभाग ने बताया है कि शराब की दुकानें खोलने के पहले दिन रिकॉर्ड 45 करोड़ रुपये की शराब की बिक्री हुई। गुजरात में पिछले 24 घंटे में 376 नए केेसः गुजरात में पिछले 24 घंटे में 376 नए पॉजिटिव मामले सामने आए हैं। राज्य में कुल मामलों की संख्या 5804 हो गई है। 1195 लोग अब तक ठीक हो गए हैं या उन्हें छुट्टी दे दी गई है। गुजरात में कोरोना के कारण अब तक 319 मौतें हो चुकी हैं: गुजरात स्वास्थ्य विभाग। तमिलनाडु में सात मई से खुलेंगी शराब की दुकानें
तमिलनाडु सरकार ने सात मई से सरकारी शराब दुकानों को खोलने का एलान किया। हालांकि, कंटेनमेंट जोन में दुकानें बंद रहेंगी। स्थिति सामान्य होने पर हम उनकी मांगों पर विचार करेंगे
मैं सरकारी स्कूलों के संविदा शिक्षकों को कोरोना महामारी को ध्यान में रखते हुए, हड़ताल खत्म करने के लिए बधाई देता हूं। स्थिति सामान्य होने पर हम उनकी मांगों पर विचार करेंगे: बिहार के शिक्षा मंत्री कृष्णनंदन वर्मा।
मुंबई के धारावी में आज 42 नए पॉजिटिव मामलेः मुंबई के धारावी में आज 42 नए पॉजिटिव मामले सामने आए। इसी के साथ शहर में कुल पॉजिटिव मामलों की संख्या बढ़कर 632 हो गई, जिसमें 20 मौतें भी शामिल हैं: बृहन्मुंबई नगर निगमः छत्तीसगढ़ में 22 सक्रिय मामलेः छत्तीसगढ़ः रायपुर में 24 साल के एक व्यक्ति को कोरोना पॉजिटिव पाया गया है।


फ्रांस में 25 हजार से अधिक की मौत

पेरिस। फ्रांस में सोमवार को कोरोना वायरस से होने वाली मौतों की संख्या 25 हजार से अधिक हो गई। इस तरह अमेरिका, इटली, ब्रिटेन और स्पेन के बाद फ्रांस दुनिया का ऐसा 5वां देश बन गया है, जहां अब तक 25 हजार से अधिक मौतें कोरोना की वजह से हुई थी।


फ्रांस के एक अस्पताल में फिजियोथैरैपी करवाती एक चिकित्साकर्मी। दुनिया भर में कोरोना वायरस के फैलने पर नजर रख रहे अमेरिका की जॉन हॉपकिंस यूनिवर्सिची एंड मेडिसिन के मुताबिक कोरोना वायरस की वजह से अबतक अमरीका में 67 हजार 682, ब्रिटेन में 28 हजार 520, स्पेन में 25 हजार 264 और इटली में 28 हजार 884 लोगों की जान इस खतरनाक वायरस की वजह से गई है। मौत का आंकड़ाः फ्रांस में पिछले कुछ दिनों से एक दिन में होने वाली मौतों में कमी देखी जा रही थी। लेकिन वो भी अब बढ़ गई है। सोमवार को वहां 306 कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की मौत हो गई. इसके साथ ही फ्रांस में कोरोना से मरने वाले लोगों की संख्या बढ़कर 25 हजार 201 हो गई। यानी कि 1.2 फीसदी की बढ़ोतरी हुई। सरकारी आंकड़ों के मुताबिक यह पिछले 4 दिनों में हुई सबसे अधिक बढ़ोतरी है। इससे पहले रविवार को केवल 135 लोगों की ही मौत हुई थी। यह पिछले करीब एक महीने में एक दिन में हुईं सबसे कम मौतें थीं। इसके साथ ही सोमार को फ्रांस में कोरोना के संक्रमण के 576 नए मामले सामने आए। इसके साथ ही कोरोना से संक्रमित लोगों की संख्या बढ़कर 1 लाख 31 हजार 863 हो गई।


ईरान ने लिया मुद्रा बदलने का फैसला

तेहरान। ईरान सरकार ने बड़ा फैसला लेते हुए अपनी मुद्रा को ही बदलने का फैसला लिया है। अब तक ईरान की मुद्रा रियाल थी, जिसे अब बदलकर तोमान कर दिया गया है। अब 10,000 रियाल के बराबर एक तोमान होगा। अमेरिकी प्रतिबंधों के चलते मुद्रा में बड़ी गिरावट को रोकने के लिए ईरान ने यह बड़ा फैसला लिया है। सोमवार को ईरान की संसद ने इस संबंध में पेश किए गए विधेयक को मंजूरी दी। ईरानी न्यूज एजेंसी ISNA की रिपोर्ट के मुताबिक राष्ट्रीय करेंसी से 4 शून्य हटाने के प्रस्ताव को संसद की ओर से मंजूरी दे दी गई है।


इस प्रस्ताव को अब ईरान के शीर्ष आध्यात्मिक नेताः अयातुल्लाह खामेनेई की अध्यक्षता वाली समिति के समक्ष पेश किया जाएगा। ईरान के सरकारी टीवी चैनल ने कहा कि सेंट्रल बैंक ऑफ ईरान को करेंसी में बदलाव के लिए दो साल का वक्त दिया जाएगा। दरअसल ईरान में करेंसी से 4 शून्य हटाने को लेकर 2008 से ही चर्चा चल रही थी। लेकिन 2018 के बाद यह मांग तेजी से बढ़ गई थी, जब अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ईरान के साथ 2015 में हुई न्यूक्लियर डील से बाहर निकलने का फैसला लिया था।इसके बाद अमेरिका ने ईरान पर बड़े पैमाने पर प्रतिबंध लाद दिए थे। इसके चलते ईरानी मुद्रा में 60 फीसदी तक की गिरावट देखने को मिली थी। फॉरेन एक्सचेंज वेबसाइट्स के मुताबिक ईरानी मुद्रा रियाल डॉलर के मुकाबले 156,000 के स्तर पर काम कर रही है। ईरानी मुद्रा में कमजोरी और बढ़ी महंगाई के चलते देश में 2017 के अंत में बड़े पैमाने पर हिंसक प्रदर्शन भी हुए थे।


भारतः वैक्सीन का निर्माण करेंगे

नई दिल्ली। कोरोना वायरस से पूरी दुनिया जूझ रही है और अब तक इसका इलाज सामने नहीं आया है। इस बीच अच्छी खबर है कि भारत कोविड-19 की दवा बनाने के करीब पहुंच चुका है। हैदराबाद स्थित इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ केमिकल टेक्नोलॉजी (आईआईसीटी) ने रेमेडिसविर के लिए स्टार्टिंग मैटेरियल यानी प्रमुख प्रारंभिक सामग्री (केएसएम) को सिन्थेसाइज्ड (संश्लेषित) किया है, जो कि सक्रिय दवा घटक विकसित करने की दिशा में पहला कदम है। आईआईसीटी ने सिप्ला जैसी दवा निर्माताओं के लिए प्रौद्योगिकी प्रदर्शन भी शुरू किया है, ताकि जरूरत पड़ने पर भारत में इसका निर्माण शुरू हो सके।


दरअसल, कोविड-19 के इलाज में अब तक रेमडेसिवीर (रेमडेसिविर या रेमडेसिवियर) को कारगर बताया जा रहा है, जिसकी मंजूरी अमेरिका ने दे दी है। रेमडेसिवीर का निर्माण गिलियड साइंसेज करती है। रेमडेसिवीर को क्लिनिकल डाटा के आधार पर अमेरिका में कोविड-19 के इलाज के लिए आपातकालीन अनुमति मिल चुकी है।


प्रवासी मजदूरों के लिए चलेगी 40 ट्रेन

प्रवासी मजदूरों के लिए तेलंगाना से रोजाना चलेंगी 40 विशेष ट्रेनें


हैदराबाद। तेलंगाना के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव ने कहा कि प्रवासी मजदूरों को उनके घर भेजने के लिए मंगलवार से एक हफ्ते तक रोजाना 40 विशेष ट्रेनें चलाई जाएंगी।  


महाराष्ट्र में 771 नए मामले, 35 लोगों की मौतः महाराष्ट्र में 771 नए मामले सामने आए और 35 लोगों की मौत हो गई। इसी के साथ राज्य में कुल मामलों की संख्या 14541 हो गई। कोरोना वायरस के कारण राज्य में अब तक 583 लोगों की मौत हो चुकी है: महाराष्ट्र स्वास्थ्य विभाग।


दिल्ली सरकार ने शराब पर 70 फीसदी कोरोना टैक्स लगाया। दिल्ली सरकार ने शराब के अधिकतम खुदरा मूल्य पर 'विशेष कोरोना शुल्क' 70 फीसदी टैक्स लगाया है। यह कल से लागू होगा।


राजस्थान के 29 जिलों में वायरस फैला

जयपुर। राजस्थान के 33 में से 29 जिलों में कोरोना फैल चुका है, लेकिन 57 फीसदी मरीज मात्र 2 जिलों में ही हैं। इससे भी चौंकाने वाला तथ्य यह है कि अभी अस्पतालों में कोरोना के कारण भर्ती 1546 में से 68 फीसदी अकेले जयपुर-जोधपुर के ही हैं। बाकी 27 जिलों के 32 फीसदी ही हैं। सोमवार रात तक पूरे राज्य के 3061 रोगियों में से अकेले जोधपुर और जयपुर के 1743 मरीज हैं। एक माह पहले जोधपुर में बमुश्किल 20 मरीज थे, अब एक्टिव मरीजों के मामले में यह जयपुर के बराबर पहुंच गया है।


एक माह पहले जोधपुर के कुल मरीजों की तुलना में जयपुर में पांच गुना मरीज थे। 2 अप्रैल को जयपुर में कुल मरीज 92 थे, और जोधपुर में 20 थे। लेकिन 4 मई को सिर्फ डेढ़ गुना का अंतर रह गया। जयपुर में पाॅजिटिव मरीज 1022 और जोधपुर में 721 हैं। प्रदेश में कुल 77 मौतें हुई हैं। इनमें 44 जयपुर और 11 जोधपुर में हुईं। यानी प्रदेश की 71% मौतें इन्हीं दो जगह हुईं। उधर, प्रदेश में अब तक कुल 1,29,258 जांचें हुई हैं। इनमें 51,666 जांचें सिर्फ जयपुर और जोधपुर में हुई हैं। जयपुर में 28,150 और जोधपुर में 23,516 सैंपल लिए जा चुके हैं।


नॉर्थ कोरिया ने सस्पेंस खत्म किया

प्योंगयांग। तानाशाह किम जोंग उन को लेकर नॉर्थ कोरिया ने सस्पेंस खत्म कर दिया है। 20 दिन बाद जब तानाशाह किम फिर से दुनिया के सामने आ गया है तब उसके पास तबाही का नया फॉर्मूला हैं। तानाशाह किम जोंग ने अपने अज्ञातवास में कई सा​जिशों को सिरे चढ़ाया है। उसने सबसे बड़ी मुसीबत तो अपने कट्टर दुश्मन साउथ कोरिया के लिए खड़ी कर दी है। तानाशाह की वापसी के साथ ही कोरियाई बॉर्डर पर तनाव बढ़ गया है। जो एक बड़े संकट का संकेत दे रहा है।


दुनिया इस सस्पेंस में थी कि नॉर्थ कोरिया का सनकी तानाशाह किम जोंग उन जिंदा है या मर गया। दुनिया रहस्यमयी देश उत्तर कोरिया के अंदर ये पता लगाने की कोशिश कर रही थी कि आखिरकार किम जोंग उन का क्या हुआ। 20 दिन की गुमशुदगी के बाद उत्तर कोरिया से एक फैक्ट्री के उद्घाटन का वीडियो सामने आया और दावा किया गया किम जोंग उन पूरी तरह से स्वस्थ है।


कोरिया बॉर्डर पर एक्शन शुरूः इधर, तानाशाह का सस्पेंस खत्म हुआ उधर कोरिया में एक्शन शुरू हो गया। किम जोंग उन के 20 दिन तक गायब रहने के बाद लौटने के साथ ही नॉर्थ और साउथ कोरिया के बीच माहौल बिगड़ने लगा है।जोंग की वापसी के साथ नॉर्थ कोरिया की ओर से आक्रामकता दिखाई जा रही है।


यूपी ने बेचीं 300 करोड़ की शराब

लखनऊ। लॉकडाउन तीन में शुरू हुई शराब की बिक्री ने एक दिन में सारे पुराने रिकॉर्ड ध्वस्त कर दिए। एक अनुमान के मुताबिक प्रदेश में लगभग 300 करोड़ रुपये की शराब की बिक्री हुई। राजधानी लखनऊ में आठ करोड़ रुपये की शराब बिक गई जबकि दर्जन भर जिले ऐसे रहे जहां पांच करोड़ रुपये या उसके आसपास शराब बिकी।


सुबह दुकान खुलने से पहले ही शराब की दुकानों पर लंबी कतारें लग गईं। पूरा-पूरा कैरेट शराब की खरीद रहे थे। कुछ दुकानों पर शाम होते-होते स्टॉक की शार्टेज होने लगी। हालांकि इससे पहले ही सरकार ने बिक्री पर ब्रेक लगाने के लिए लिमिट तय कर दी। लेकिन तब तक बड़ी संख्या में विभिन्न श्रेणी की शराब बिक चुकी थी। शराब की बिक्री और नियमों का पालन हो रहा है या नहीं, इसका जायजा लेने खुद प्रमुख सचिव आबकारी संजय आर भूसरेड्डी और आबकारी आयुक्त पी गुरू प्रसाद निकले।


उन्होंने सोशल डिस्टेंसिंग के पालन के साथ शराब की बिक्री के निर्देश दिए। दुकानों पर लंबी कतार और अधिक मात्रा में खरीदारी को देखते हुए विभाग ने निर्णय लिया कि एक बार में एक व्यक्ति अधिकतम 750 एमएल ही शराब दी जाएगी। इसमें एक बार मे एक बोतल, दो हाफ, तीन पव्वा, 375 एम एल बीयर की दो बोतल या तीन केन खरीदा जा सकता है। आबकारी आयुक्त पी गुरु प्रसाद ने बताया कि लंबे समय बाद दुकानों के खुलने से सुबह से ही बंपर खरीदारी हो रही थी। स्टॉक कम न पड़ जाए इसे देखते हुए लिमिट तय की गई। दोपहर बाद इसे लागू कराया जा सका। तब तक बड़ी मात्रा में लोग शराब खरीद कर घर जा चुके थे। प्रमुख सचिव ने बताया कि यह लिमिट अगले दो दिनों तक जारी रहेगी।


वहीं कई स्थानों पर शराब की दुकानों पर उमड़ी भारी भीड़ की वजह से सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं हो सका। प्रमुख सचिव आबकारी ने बताया कि इस बात के सख्त निर्देश दिए गए थे कि सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किया जाए। बिना मास्क या बिना फेस कवर किए लोगों को लाइन में ही न लगने दिया जाए। आगे भी इसका पालन सुनिश्चित करना होगा। उन्होंने बताया कि यूपी में कहीं भी कोई अप्रिय घटना की खबर नहीं है। इसकी तैयारी आबकारी विभाग और पुलिस विभाग ने मिलकर पहले से की थी। चीनी मिलों के इंस्पेक्टर को भी ड्यूटी पर लगाया गया था।


सूत्रों का कहना है कि शराब की बंपर बिक्री से प्रदेश सरकार को आबकारी विभाग से एक दिन में सर्वाधिक राजस्व का रिकार्ड बना। प्रदेश सरकार के खजाने में लगभग डेढ़ करोड़ रुपये का राजस्व आने का अनुमान है। संजय आर भूसरेड्डी ने बताया कि शराब की बिक्री पर रोक के बाद अभियान चलाया गया था। 25 मार्च से 3 मई तक चले अभियान में एक लाख 61 हजार लीटर अवैध शराब जब्त की गई। इस दौरान 6264 मामले पकड़े गए। इस में शामिल 898 व्यक्तियों को जेल भेजा गया तथा 63 वाहन भी जब्त किए गए। गिरफ्तार किए गए अपराधियों एवं जब्त किए गए वाहनों के विरूद्ध आबकारी अधिनियम एवं भारतीय दंड संहिता तथा मोटर व्हीकल एक्ट की धाराओं के तहत मुकदमे दर्ज किए गए।


महाराष्ट्र कमाना चाहता है 2 हजार करोड़

मुंबई। राज्य सरकार के आमदनी में जबरदस्त इजाफा हुआ है। 4 मई से सभी राज्यों में शराब की दुकानें खुल गई हैं। हर राज्य में भीड़ दुकानों पर उमड़ पड़ी है। इस बीच करीब 40 दिन बाद खुले दुकानों से राज्य सरकारों के आमदनी में जबरदस्त इजाफा हुआ है। कई राज्यों में शराब की रिकॉर्ड बिक्री दर्ज की गई है।


कर्नाटक और आंध्र प्रदेश में रिकॉर्ड बिक्री


ताजा रिपोर्ट के अनुसार सोमवार को शराब की दुकानों में बिक्री ने कई रिकॉर्ड कायम किए हैं। कर्नाटक सरकार ने सिर्फ एक दिन में शराब की बिक्री से 45 करोड़ रुपये कमाए हैं। इसी तरह आंध्र प्रदेश से मिले रिपोर्ट के अनुसार राज्य में पहले दिन की कमाई 40 करोड़ रुपये रही। दिल्ली में भी कल जनसैलाब टूट पड़ा।


महाराष्ट्र कमाना चाहता है 2000 करोड़ रुपये


महाराष्ट्र आबकारी विभाग सिर्फ मई महीने में शराब की बिक्री से लगभग 2000 करोड़ रुपये कमाने का टारगेट बना चुकी है। विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार सरकार शराब की बिक्री से 80-100 करोड़ रोजाना कमाएगी।


कर्नाटक में बिकी 45 करोड़ की शराब

बेंगलुरु। भारत में कोरोना से बचाव खातिर सोमवार से अगले 14 दिनो तक Lockdown 3.0 शुरू हो गया है। तीसरे चरण के लॉकडाउन के पहले दिन यानी सोमवार को देश के अधिकतर राज्यों में शराब की दुकानें खोल दी गईं और बिक्री की अनुमति दे गई। lockdown की वजह से विगत 41 दिन से पूरा देश घरो में रहने को मजबूर था। लॉकडाउन 3.0 के पहले दिन देश के कई राज्‍यों ने कई प्रतिबंधों में ढील दी। इसका व्‍यापक असर देखने को मिला शराब की दुकानों को लेकर। पूरे दिन देश के कई  राज्‍यों से शराब की दुकानों के आगे लगी हुई कतारों के फोटो-वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हुई।


शराब की दुकान (liquor shops) खुलने से पहले ही लंबी लाइन लग गई है। 9 बजे से खुलने वाली दुकान के बाहर लोग सुबह सात बजे से ही लंबी लाइन में खड़े होकर इंतजार करने लगे। कुछ दुकानों पर सुबह होते-होते लाइन एक किलोमीटर तक पहुंच गई है। तो कई जगह शराब की दुकानों के बाहर सुबह से ही लंबी लाइनें देखी गई।


लेकिन अकेले कर्नाटक (Karnataka) राज्य को इसका सबसे ज्यादा फायदा हुआ है। कर्नाटक आबकारी विभाग (Karnataka Excise Department) की तरफ से बताया गया है कि इस एक दिन यानि सोमवार को राज्य में 45 करोड़ रुपए की शराब की बिक्री हुई है।आबकारी विभाग के अनुसार, सुबह 9 बजे से शाम 7 बजे तक 3.9 लाख लीटर बीयर (Bear) और 8.5 लाख लीटर इंडियन मेड लिकर (IML) की बिक्री से 45 करोड़ रुपए का राजस्व प्राप्त हुआ है।।राज्य के आबकारी मंत्री एच नागेश (H Nagesh) ने बताया कि हमें 25 करोड़ रुपए की बिक्री की उम्मीद थी, लेकिन यह उससे भी अधिक है। जिसमें की 40% अकेले बेंगलुरु से है।


राज्य के पास है पर्याप्त स्टॉक


इसके साथ ही नागेश ने कहा कि लोगों को खरीदारी करने में जल्दबाजी नहीं करनी चाहिए क्योंकि राज्य के पास पर्याप्त स्टॉक है। दस दिनों के स्टॉक में IML के 26.5 लाख बॉक्स और बीयर के 16.5 लाख बॉक्स हैं। मंगलवार से राज्य के बजट के अनुसार शराब की कीमतें बढ़ेंगी और अतिरिक्त 6% उत्पाद शुल्क लगाया जाएगा,जो इस वित्त वर्ष (Fiscal Year 2020) से लागू होगा।


अदुगोड़ी में एक ने खरीदी 52,841 रुपए की शराब


मंत्री ने आगे कहा कि हालांकि आबकारी विभाग ने प्रति व्यक्ति 2.3 लीटर की सीमा तय की थी, लेकिन कुछ लोगों ने उससे भी अधिक खरीदी है।।उन्होंने कहा, “मुझे यह जानकर आश्चर्य हुआ कि अदुगोड़ी में अकेले एक व्यक्ति ने 52,841 रुपए की शराब खरीदी है।”


शराब दुकान की पूजा तो कही नारियल फोड़ा 


इतनी ही नहीं कुछ लोगों ने तो शराब खरीदने के तुरंत बाद इतनी पी ली कि वे सड़कों पर ही गिर गए।दावानगेरे में एक बूढ़ा व्यक्ति शराब पीने के बाद इतना खुश हुआ कि बिक्री की अनुमति के लिए उसने हर अधिकारी, नागरिक और राजनेता को धन्यवाद तक दिया। तो कुछ जगहों पर तो लोग नारियल तोड़ते और पूजा करते शराब दुकान के सामने स्पॉट किये गए।


एक्साइज कमिश्नर यशवंतनाथ वी ने बताया ने कि आम तौर पर किसी भी दिन लगभग एक लाख लीटर कि ही बिक्री होती है। लोगों को खरीदारी करने के लिए जल्दबाजी नहीं करनी चाहिए, स्टोर खुले रहेंगे और शराब उपलब्ध होगी। गोदाम में पर्याप्त है और डिस्टिलरीज भी अब काम कर रही हैं।सभी शराब दुकानों और पुलिस अधिकारियों को यह सुनिश्चित करने के लिए दिशा-निर्देश जारी किए गए हैं कि कोई अप्रिय घटना न हो।


महिलाओं ने भी खूब खरीदी मदिरा


वर्त्तमान समय में पुरुष के कन्धे से कंधा मिलाकर हर फील्ड में अपनी जबरदस्त उपस्थिति दर्ज़ कराने वाली आधी आबादी ने Lockdown के बाद खुली शराब की दुकानों पर महिलाओ की भी उपस्थिति भी जोरदार दिखी। महिलाए भी अच्छी खासी संख्या में शराब दुकानों के खुलने का इंतजार करते लंबी कतार में खड़ी दिखी।


प्राइवेट पार्ट को काट शिवलिंग पर चढ़ाया

ग्वालियर। एमपी के ग्वालियर सेंट्रल जेल में बंद एक कैदी ने अपना प्राइवेट पार्ट काटकर शिवलिंग पर चढ़ा दिया। घटना की जानकारी मिलते ही सेंट्रल जेल में हड़कंप मच गया। जेल स्टॉफ उसे लेकर जयारोग्य अस्पताल भागे और ट्रॉमा सेंटर में उसे भर्ती कराया गया है। अभी कैदी की हालत स्थिर बनी है। कैदी एमपी के भिंड जिले का रहने वाला है। कैदी ने इस हरकत के बाद कहा कि उसे सपने में भगवान भोलेनाथ ने दर्शन देकर ऐसा करने के लिए कहा था। ऐसा करने के बाद वह गंभीर रूप से लहूलुहान था। साथ ही जेल की सुरक्षा पर भी सवाल उठ रहे हैं।


जेलर प्रभात कुमार शर्मा के मुताबिक हत्या के मामले में सजा काट रहा कैदी विष्णु सिंह राजावत सुबह रोज की तरह जेल में बने शिव मंदिर में पूजा करने गया था। इसी दौरान उसने सुबह 6 बजे अपना प्राइवेट पार्ट काटकर शिव जी पर चढ़ा दिया। घटना की जानकारी लगते ही जेल स्टाफ ने जेएएच के ट्रॉमा सेंटर में भर्ती कराया है।


घायल कैदी विष्णु ने कहा कि रात को उसके सपने में भगवान भोलेनाथ आए थे, उन्होंने मुझे ऐसा करने का आदेश दिया और मैंने आज मंदिर में अपना प्राइवेट पार्ट उन्हें भेंट कर दिया। उसने बताया कि उसने मंदिर में रखी चम्मच का धारदार हथियार (कट्टन) बनाया और अपना प्राइवेट पार्ट काट दिया। विष्णु भिंड जिले का रहने वाला है, उसने ऊमरी थाने में घुसकर पुलिस वालों की हत्या की थी। विष्णु हत्या सहित अन्य मामलों में कुल 63 साल की सजा भुगत रहा है और वो दो साल से सेंट्रल जेल में बंद है। डॉक्टर विष्णु की हालात पर नजर रखे हुए हैं। कैदी की इस हरकत ने जेल महकमे में खलबली मचा दी है।


जरूरतमंदों को वितरण की खाद सामग्री

बहराइच जिले के मुर्तिहा कोतवाली के एस आई वीरपाल सिंह वितरीत कर रहे है  ज़रूरत मंद को खाद्यान सामग्री


बहराइच। देश और दुनिया में जहाँ कोरोना वायरस के दहसत और लॉक डाउन से लोग अपने अपने घरों में दुबके है ।
वहीं रोज कमाने खाने वालों पर व दिहाड़ी मजदूर पर खाने के लाले पड़ने लगे है।
जिसको देखते हुए बहराइच जिले के मुर्तिहा कोतवाली के उपनिरीक्षक वीरपाल सिंह ने ग्राम सभा धर्मापुर, हरखापुर और कई गांवों में घर घर जाकर  गरीब वंचित व दिहाड़ी मजदूर   को राशन दाल तेल सब्जी आदि  वितरण करने का काम कर रहे है। तथा लोगों को घर पर ही रहने की अपील भी कर रहे है। आपको बता दे कि उपनिरीक्षक वीरपाल सिंह अपने  इन्ही नेक काम को लेकर अक्सर सुर्खियों में बने रहते है।


आदर्श पांडेय


आइसोलेशन सेंटर का डीएम ने जायजा लिया

जिलाधिकारी ने आइसोलेशन सेन्टर का जायजा लिया


आरोग्य सेतु ऐप की जानकारी देकर डाउनलोड करवाया


सोशल डिस्टेसिंग ,लाकडाउन का पालन करे ,  जिलाधिकारी


कौशाम्‍बी। जिलाधिकारी मनीष कुमार वर्मा एवं पुलिस अधीक्षक अभिनंदन सिंह कौशाम्बी द्वारा कोरोना वायरस के संक्रमण के रोकथाम हेतु लॉकडाउन के नियमों का पालन कराने एवं व्यवस्थाओं का जायजा लेने हेतु सोमवार को,जनपद के थाना सैनी क्षेत्र के कस्बा सिराथू,सैनी चौराहा कड़ाआदि स्थानों का भ्रमण कर लाकडाउन का जायजा लिया | और इस दौरान आर पी डिग्री कॉलेज दारा नगर ,कड़ा का निरीक्षण किया गया |जहां पर कोरोना संक्रमण के कारण बाहर से आये व्यक्तिओं को आइसोलेशन पर रखा गया है उन सभी से वार्ता कर उनको आरोग्य सेतु एप के बारे में जानकारी दी गई, व उनके मोबाईल मे आरोग्य सेतु एप डाउनलोड कराया गया |सभी को निर्देशित किया गया कि वह क्वारंटाइन सेंटर में आपस में  सामाजिक दूरी बनाए रखे एवं एक स्थान पर एकत्र हो कर न बैठें, तत्पश्चात पुलिस अधीक्षक महोदय द्वारा क्षेत्राधिकारी सिराथू एवं पुलिस बल के साथ शराब की दुकानों पर सोशलडिस्टेसिंग एवं कानून व्यवस्था का जायजा लिया गया। भ्रमण के दौरान लॉकडाउन के अनुपालन में लगे पुलिस कर्मियों को सक्रियता व सर्तकता से ड्यूटी करने एवं ड्यूटी के दौरान कोरोना संक्रमण से बचाव हेतु सावधानी बरतने को कहा गया ।जिले मे कोइ भी संक्रमित न हो इसके लिए जिलाधिकारी कौशाम्‍बी एवं पुलिस अधीक्षक कौशाम्‍बी रात दिन प्रयासरत है |
पुष्पेश त्रिपाठी


सरकारी तोहफा 'विश्लेषण'

अद्भुत यह परिवर्तन की बेला मंदिर मस्जिद में लगा है ताला देखो भई देखो ईश्वर की लीला पीने के  लिए खुल गई मधुशाला


डॉ सुधाकर पांडेय


 क्या मंदिर मस्जिद स्कूल कॉलेज से ज्यादा  जरूरी है शराब की दुकान के कपाट खोलने केंद्र एवं राज्य सरकार का  लॉक डाउन के 42 में दिन देश की जनता को पहला तोहफा दिया सोमवार को मदिरा की दुकान खोलने के पश्चात शाम होते होते प्रयागराज की सड़कों पर नमूना दिखने लगे किसी का पैर गटर में तो कोई बीच सड़क पर ही साइकिल से धड़ाम तो कोई कोरोना को भगाने को लेकर बीच सड़क बीच सड़क नशे में डांस करते दिखते नजर आया l


यह मधुशाला की ही कमाल है l निश्चित तौर पर घरों में चूल्हे नहीं जले गे  घरेलू हिंसा होगी  बच्चे बिन खाए सोएंगे सरकार द्वारा शराब की दुकान खोलने का फैसला गलत है या सही यह सरकार को सोचना होगा l हो सकता है सरकार अपनी आर्थिक स्थिति मदिरा के बहाने मजबूत करना चाह रही हो l कारण जो भी हो पर इस वैश्विक महामारी में जहां एक तरफ मंदिर के कपाट बंद हैं सोशल डिस्टेंसिंग का पालन हो रहा है


इसमें शराब का दुकान खोलना यह दुर्भाग्यपूर्ण फैसला लग रहा है l जिस तरह सेदुकानों पर सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ रही हैं 42 दिन लाॅक डाउन रखने का क्या फायदा बीमारी अभी खत्म नहीं हुई है ना ही टली है बल्कि मुहावरे पर खड़ी है 


सरकार को शराब के साथ साथ  सुनार की दुकान भी खोलनी चाहिए  क्योंकि लोगों के पास पैसे तो है नहीं  घर के जेवर बेचकर ही  शराब इस वक्त  पी जा सकती है और  शराबियों के सम्मान में  सरकार को एक आदेश जारी करना चाहिए कि जब कोई शराब लेने  दुकान पर पहुंचे तो ताली बजाकर उसका उत्साहवर्धन करें 


क्योंकि वह देश की अर्थव्यवस्था में योगदान देने जा रहा है जीवन में पहली बार  देखा है  की शराबियों के सम्मान में पुलिस के जवान  लाइन लगवाकर शराबी को आ रहे हैं  यह पुलिस जवानों का अपमान है  अपने निजी फायदे के लिए सरकार कुछ भी करने को तैयार हैं करोड़ों मजदूर जिनकी रोजी-रोटी के लाले पड़े हैं  


लोग भुखमरी से मर रहे हैं शराब की दुकान खोलने से देश की महिलाएं चिंतित और भयभीत हैं महिलाओं का कहना है यह उचित समय नहीं है शराब की दुकान खोलने का


लोग महीनों से अपने कारोबार को बंद करके घर पर बैठे हैं जमा पूंजी खा रहे हैं शराब की दुकान खुलने से लोग अपने नशे को पूरा करने के लिए घरेलू हिंसा करेंगे एवं चोरी वा क्राइम में बढ़ोतरी होगी लोग अपने नशे को पूरा करने के लिए क्राइम करेंगे सरकार का यह फैसला जल्दी बाजी में लिया गया फैसला है स्थिति देश की पूर्ण रूप से नॉर्मल हो जाने के बाद ही शराब की दुकानें खोलने चाहिए सरकार को यह बात सही है कि नशे की चीजों में सरकार को बड़ा मुनाफा मिलता है लेकिन बड़ा मुनाफे के चक्कर में सरकार गलत फैसले ले रही है 


शराब की दुकान खोलने से कहीं ज्यादा जरूरी गरीब मजदूर किसान  छोटे कारोबारी की जिंदगी पुनः पटरी पर लौट आना है सरकार को अपने फैसले पर एक बार पुनः विचार करने की जरूरत है l
शराब लेने की बात पर पुलिस ने भी दे दी छूट.............


सोमवार था मंगलवार को जिस तरह से सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ती रही पुलिस भी लाचार दिखी इतने दिनों से घरों में रहने की सलाह देने वाली पुलिस मूकदर्शक बनी रहे l वैश्विक महामारी में लॉक डाउन का कड़ाई से पालन करा रही पुलिस जब दारू की बोतल लेने जा रहे लोगों की भीड़ देखकर मूकदर्शक बनी रही l 


सोशल डिस्टेंसिंग की लोग धज्जियां उड़ाते रहे पुलिस मूकदर्शक बनकर देखती रही पुलिस भी क्या करें वह लाचार है शासन प्रशासन का पालन करना उनकी मजबूरी है l जैसे ही लोग कहते कि दारू की बोतल लेने जा रहा हूं पुलिस अभी उनको बगल से जाने की इजाजत दे देती वसूल करके दारु की दुकान के सामने लाइन में लग जाते हैं


जैसे ही दारू की बोतल मिलती है वह माथे पर लगा कर खुशी खुशी अपने घर के लिए रवाना हो जाते l अब आम जनमानस को सोचना होगा कि दारू जरूरी है या जीवन l


भीगी मूंगफली खाने के कई फायदे

कविता गर्ग


ड्राई फ्रूटस खाना सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होता है. हालांकि गर्मियों के मौसम में ड्राई फ्रूट्स खाने से पहले कुछ बातों का ध्यान रखना जरूरी होता है. गर्मियों में कोशिश करें कि ड्राई फ्रूट्स को भिगोकर ही खाएं. क्या आपको पता है कि ड्राई फ्रूट्स में मूंगफली खाना सेहत के लिए काफी अच्छा होता है. साथ ही यह बड़ी आसानी से कम दाम में उपलब्ध हो जाता है. अन्य ड्राई फ्रूट्स के मुकाबले इसका इस्तेमाल विभिन्न प्रकार के पकवानों को बनाने में किया जाता है. मूंगफली का सेवन अगर रात में भिगोने के बाद सुबह उठकर किया जाए तो उसके कई बेहतरीन स्वास्थ्य फायदे देखने को मिल सकते हैं. आइए आपको बताते हैं मूंगफली को भिगोकर खाने के फायदों के बारे में.


बॉडीबिल्डिंग में करें मदद


बॉडीबिल्डिंग करने वाले पुरुषों के लिए रोज सुबह उठने के बाद भीगी हुई मूंगफली का सेवन करना काफी फायदेमंद होता है. इसमें प्रोटीन की पर्याप्त मात्रा पाई जाती है जो बॉडीबिल्डर्स के शरीर में प्रोटीन की पूर्ति करता है. इसे आप स्प्राउट के साथ सुबह-सुबह खा सकते हैं.


हार्ट संबंधी बीमारी का खतरा कम


मूंगफली में ऐसे गुण पाए जाते हैं जो दिल से जुड़ी कई प्रकार की बीमारियों से सुरक्षा प्रदान करते हैं. मूंगफली में कार्डियोप्रोटेक्टिव गुण पाया जाता है. इस कारण जो लोग नियमित रूप से कार्डियोप्रोटेक्टिव वाले स्रोत खाद्य पदार्थ का सेवन करते हैं वह अपनी डायट में मूंगफली को भी शामिल कर सकते हैं. कार्डियोप्रोटेक्टिव एक ऐसा गुण है जो दिल से जुड़ी बीमारियों के खतरे को कई गुना तक कम कर देता है. इसके लिए भीगी हुई मूंगफली का सेवन जरूर करें.


मस्तिष्क को रखता है हेल्दी


कई प्रकार के ड्राई फ्रूट का सेवन करना दिमाग के स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद माना जाता है. वहीं, मूंगफली में ओमेगा-3 फैटी एसिड पाया जाता है. यह एक ऐसा फैटी एसिड है जो दिमाग की कार्यक्षमता को बढ़ाने का कार्य करता है. इसलिए जो बच्चे आपके घर में पढ़ाई कर रहे हैं उन्हें रोज सुबह भीगी हुई मूंगफली का नियमित रूप से सेवन कराया जा सकता है. यह उनकी मेमोरी को भी बढ़ाता है.


स्किन को बनाता है चमकदार


हर कोई अपनी स्किन को चमकदार और ग्लोइंग बनाए रखने के लिए तरह-तरह के ब्यूटी प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल करता है. आपको बता दें कि भीगी हुई मूंगफली का सेवन करने वाले लोगों को भी त्वचा संबंधित कई प्रकार के फायदे मिल सकते हैं. दरअसल मूंगफली में एंटीऑक्सीडेंट की मात्रा पाई जाती है. इस कारण अगर आप सुबह-सुबह इसका सेवन करते हैं तो वह दिन भर आपकी त्वचा में ताजगी बरकरार रखने का काम कर सकता है.


पाचन शक्ति को करे मजबूत


फाइबर एक ऐसा पोषक तत्व है जो पाचन क्रिया को सुचारू रूप से चलाए रखने के लिए बेहद जरूरी होता है. इसलिए फाइबर स्रोत वाले खाद्य पदार्थों को नियमित रूप से भोजन में शामिल किया जाना चाहिए. इसके लिए आप मूंगफली को भी अपने डाइट में शामिल कर सकते हैं. इसमें फाइबर पोषक तत्व की भरपूर मात्रा पाई जाती है. इसका सेवन करने से आपका पाचन तंत्र ठीक तरह से काम करेगा और आपको पेट से जुड़ी कई प्रकार की समस्याओं से छुटकारा मिल सकेगा.


शराब से 1 दिन में 500 करोड़ कमाए

नई दिल्ली। देश में शराब की बिक्री क्या शुरू हुई, शराब के खरीददारों ने धूम मचा दी। गृह मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक महज एक दिन में शराबियों ने ताबड़तोड़ शराब की खरीददारी की।
गृह मंत्रालय की गाइडलाइंस के मुताबिक चार मई से देश में शराब की दुकानें खोलने की इजाजत दी गईं। सरकार के इस ऐलान के बाद पूरे देश के शराबी झूम उठे। शराब के शौकीन सुबह से ही ठेकों के बाहर जमा होना शुरू हो गए। ठेकों के बाहर उत्सव जैसा नजारा था। शराब को लेकर लोगों में किस कदर उत्साह था। ये सिर्फ आंकड़ों से पता चल जाएगा। दरअसल, पहले ही दिन पांच राज्यों में 554 करोड़ रुपये की शराब की बिक्री हुई।
सरकार ने कमाई के मकसद से.शराब बिक्री की इजाजत दी थी। खास बात ये रही कि शराबियों ने सरकार को निराश नहीं किया और लाकडाउन फेज तीन के पहले दिन शराब की दुकानें खुलीं। हाल ये रहा कि कुछ शहरों में तो कई किलोमीटर तक लंबी कतारें दिखीं। उत्तरप्रदेश में 225 करोड़, महाराष्ट्र में 200 करोड़, राजस्थान में 59 करोड़, कर्नाटक में 45 करोड़ और छत्तीसगढ़ में 25 करोड़ रुपये की शराब बिकी। यानि पहले ही दिन 500 करोड़ से ज्यादा की शराब बिक गई।


कोरोना के साथ स्वाइन फ्लू का कहर

नई दिल्ली। भारत सहित पूरी दुनिया खतरनाक कोरोना वायरस से जूझ रही है। इसी बीच भारत में एक और घातक बीमारी अफ्रीकन स्वाइन फ्लू की दस्तक हो चुकी है। इस बीमारी ने असम में कहर बरपाना शुरू किया है। असम सरकार के मुताबिक करीब 2500 सूअरों की इसकी वजह से मौत हो चुकी है।


दरअसल, रविवार को असम सरकार के पशुपालन और पशु चिकित्सा मंत्री अतुल बोरा ने एक प्रेस कांफ्रेंस में बताया कि राज्य में अफ्रीकी स्वाइन फ्लू के मामले सामने आए हैं। अब तक राज्य के सात जिलों के 306 गांवों में यह बीमारी फैली है। इस खतरनाक बीमारी से अब तक 2500 सूअरों की मौत हो चुकी है।


उन्होंने यह भी बताया कि राष्ट्रीय उच्च सुरक्षा पशुरोग संस्थान ने अफ्रीकी स्वाइन फ्लू (एएसएफ) की पुष्टि की है।
दरअसल, रविवार को असम सरकार के पशुपालन और पशु चिकित्सा मंत्री अतुल बोरा ने एक प्रेस कांफ्रेंस में बताया कि राज्य में अफ्रीकी स्वाइन फ्लू के मामले सामने आए हैं। अब तक राज्य के सात जिलों के 306 गांवों में यह बीमारी फैली है। इस खतरनाक बीमारी से अब तक 2500 सूअरों की मौत हो चुकी है। उन्होंने यह भी बताया कि राष्ट्रीय उच्च सुरक्षा पशुरोग संस्थान ने अफ्रीकी स्वाइन फ्लू (एएसएफ) की पुष्टि की है। देश में पहली बार इस बीमारी ने दस्तक दी है। यह संक्रमण इतना खतरनाक है कि इससे संक्रमित सूअरों की मृत्युदर 100 प्रतिशत है। उन सूअरों को बचाने की रणनीति तैयार हो रही है जो अभी संक्रमण से बचे हुए हैं।


बोरा ने बताया कि केंद्र सरकार से मंजूरी मिलने के बाद भी असम सरकार सूअरों को मारने के बजाय इस घातक संक्रामक बीमारी को फैलने से रोकने के लिए अन्य रास्ता अपनाएगी। उन्होंने बताया कि इस बीमारी का कोविड-19 यानी कोरोना वायरस से कोई लेना-देना नहीं है। इस वायरस के प्रसार के बारे में बात करते हुए उन्होंने बताया कि अफ्रीकी स्वाइन फ्लू सूअर के मांस, स्लाइवा, खून और टिशू के जरिए फैलता है। इसलिए, असम सरकार सूअरों का परिवहन रोकेगी। हमने 10 किलोमीटर की परिधि को सर्विलांस जोन में तब्दील कर रखा है, ताकि वहां से सूअर कहीं और ना जाएं।


बोरा ने बताया कि इस बीमारी की शुरुआत अप्रैल 2019 में चीन के जियांग प्रांत के एक गांव में हुई थी जो अरुणाचल प्रदेश का सीमावर्ती है। असम में यह बीमारी इसी साल फरवरी के अंत में सामने। और ऐसा लगता है कि यह बीमारी चीन से अरुणाचल होती हुई असम पहुंची है। असम सरकार के प्लान के बारे में बात करते हुए बोरा ने बताया कि पशु चिकित्सा विभाग प्रभावित इलाके के एक किलोमीटर के दायरे में नमूने इकट्ठा करके उनकी जांच करेगा। इस दौरान केवल उन्हीं सूअरों को मारा जाएगा जो संक्रमित होंगे। पड़ोसी राज्यों से भी आग्रह किया गया है कि वे अपने यहां सूअरों के आवागमन पर रोक लगाएं। एक तथ्य यह भी है कि पिछले दिनों असम के धेमाजी, उत्तरी लखीमपुर, बिश्वनाथ, डिब्रूगढ़, शिवसागर और जोरहाट और अरुणाचल प्रदेश के कुछ जिलों में सूअरों की असामान्य मौत हुई है। इसके बाद उसी समय मेघालय में अन्य राज्यों से सूअरों के परिवहन पर रोक लगा दी गई है।


असम राज्य सरकार के आंकड़ों के मुताबिक साल 2019 की जनगणना के अनुसार असम में सूअरों की संख्या 21 लाख थी, लेकिन अब यह बढ़ कर करीब 30 लाख हो गई है।इसके अलावा असम में कोरोना वायरस के मामलों पर बात करते हुए मंत्री ने बताया कि राज्य कोरोना संक्रमितों की संख्या 42 हो गई जिसमें से 32 ठीक भी हो चुके हैं और उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है। राज्य में अभी 9 केस एक्टिव है और 1 की मौत हो चुकी है।


नस दबाते ही तिल-मिलाई सरकार

नई दिल्ली। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी शनिवार को पार्टी के वरिष्ठ नेताओं के साथ मंत्रणा के बाद गरीब, मजदूर का रेलवे और बस का किराया पार्टी की तरफ से देने का निर्णय लिया। सकारात्मक पहल के साथ सोनिया गांधी ने परोक्ष रूप से एक नस क्या दबाई, केन्द्र पूरी केन्द्र सरकार तिलमिला उठी। सोनिया गांधी की पहल पर शनिवार को ही कर्नाटक प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष डीके शिवकुमार एक करोड़ रु. का चेक मुख्य सचिव को दे आए। रविवार सुबह पार्टी के संगठन महासचिवों ने सभी महासचिवों, प्रदेश अध्यक्षों से बात की और मुख्य सचिव के पास गरीबों, मजदूरों का किराया देने का पत्र देने, चेक देने को कहा। सोनिया, राहुल, प्रियंका, अहमद पटेल, रणदीप सुरजेवाला के ट्वीट आते गए और सोशल मीडिया पर केन्द्र सरकार पर दबाव बढ़ता चला गया।
स्वामी……आनन-फानन में केन्द्र सरकार ने बदला निर्णय
कांग्रेस पार्टी के इस निर्णय की गंभीरता भाजपा के राज्यसभा सुब्रामण्यम स्वामी को समझते देर नहीं लगी। उन्होंने केंद्रीय रेल मंत्री पीयुष गोयल से बात की। पीयुष गोयल से मंत्रणा के बाद स्वामी ने जानकारी सार्वजनिक की कि गरीब, मजदूरों के किराए का 85 प्रतिशत हिस्सा केन्द्र सरकार, 15 प्रतिशत राज्य सरकार वहन करेगी। भाजपा के तेज तर्रार प्रवक्ता सांबित पात्रा भी सक्रिय हुए। भाजपा अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा ने तत्काल संज्ञान में लिया। सूत्र बताते हैं कि फोन केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह के पास भी पहुंचा। पार्टी के नेताओं ने मंत्रणा की। ऐसा माना जा रहा है कि अमित भाई (केन्द्रीय मंत्री) ने प्रधानमंत्री और रेल मंत्री से भी चर्चा की। इसके बाद सभी भाजपा राज्य सरकारों ने निर्णय लेना शुरू कर दिया। 04 मई को म.प्र. के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी आदेश जारी किया कि राज्य सरकार 15 प्रतिशत किराए का वहन करेगी। हालांकि कांग्रेस शासित एक राज्य के मुख्यमंत्री ने दावे के साथ कहा कि पहले तो यह किराया गरीब, मजदूरों को ही भरने की जानकारी थी। खैर, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के इस निर्णय के बाद छत्तीसगढ़, पंजाब, राजस्थान की सरकारों ने भी गरीब, मजदूरों के किराए का खर्च वहन करने की घोषणा कर दी। रेलवे बोर्ड के चेयरमैन का बयान महत्वपूर्ण है
रेलवे बोर्ड के चेयरमैन विनोद कुमार यादव ने गरीब, मजदूरों से किराया वसूलने के सवाल पर शनिवार को ही एक प्रतिष्ठित समाचार पत्र को बताया था कि वह(रेलवे) मुफ्त यात्रा की आदत नहीं डालना चाहता। समझा जा रहा है कि विनोद कुमार यादव का यह निर्णय केवल उनके बस की बात नहीं है। इसमें रेलमंत्री पीयुष गोयल और उच्च स्तर पर मिली अनुमति जरूर शामिल रही होगी। रविवार को सुबह से रेलवे बोर्ड के चेयरमैन और रेल मंत्री पीयुष गोयल से संपर्क की हर कोशिश बेकार गई। यहां तक कि केन्द्र सरकार ने भी इस मुद्दे पर कांग्रेस पार्टी को नहीं घेरा।
कांग्रेस के लिए राहत भरा दिन रविवार को सुबह कांग्रेस पार्टी के संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल से सरकार के निर्णय को लेकर काफी तीखे सवाल हुए, लेकिन वेणुगोपाल ने कहा कि यह समय सरकार की आलोचना का नहीं है। उन्होंने केवल इतना कहा कि कांग्रेस पार्टी अपनी जिम्मेदारी निभा रही है। उन्होंने इस प्रयास को कांग्रेस पार्टी के रचनात्मक, सकारात्मक सहयोग से जोडऩे की कोशिश की। मीडिया विभाग के प्रभारी रणदीप सुरजेवाला ने जरूर रेलवे द्वारा पीएम केयर फंड में रेलवे द्वारा दिए 151 करोड़ रुपये का तंज कसा, वेणुगोपाल ने भी इसकी याद दिलाई, लेकिन बहुत आलोचनात्मक नहीं हुए। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी का संदेश भर पढ़कर सुनाया। थोड़ी देर बाद कांग्रेस अध्यक्ष ने वीडियो संदेश भी दे दिया।


सरकार के मंत्रियो ने अढ़ी खामोशी…..नहीं मिली राहुल को ट्यूशन पढऩे की सलाह
बड़े दिन बाद कांग्रेस पार्टी के पास इतना सुंदर दिन आया। गरीब, मजदूर का किराया भरने का निर्णय लेकर पार्टी ने सत्ता पक्ष का मुंह बंद करा दिया। राहुल गांधी के आक्रामक ट्वीट पर भी केन्द्र सरकार के मंत्री आज खामोश रहे। सूचना एवं प्रसारण मंत्री ने कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी को कोई ट्यूशन पढऩे की सलाह नहीं दी। केन्द्रीय सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री रविशंकर प्रसाद भी अपने चित परिचित अंदाज में नहीं आए। भाजपा के नेताओं ने भी कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के खिलाफ कोई बड़ा मोर्चा नहीं खोला। सोशल मीडिया पर भाजपा ब्रिगेड पूरी तरह से रक्षात्मक बनी रही। पहली बार सत्ता पक्ष की तरफ से बहुत रचनात्मक सुझाव आया। सत्ता पक्ष ने विपक्ष से अपील की कि वह अपनी राज्य सरकारों से किराए का 15 प्रतिशत हिस्सा देकर सहयोग देने को कहे।


जीएसटी का भुगतान मिला नहीं…..15 प्रतिशत का अर्थ क्या है?
कांग्रेस शासित राज्य के एक मुख्यमंत्री की सुन लीजिए। सूत्र का कहना है कि कांग्रेस अध्यक्ष ने फैसला लिया है। पार्टी गरीब, मजदूरों के किराए का खर्च वहन करेगी। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार प्रवासी गरीब, मजदूरों के लिए हर स्तर पर सहयोग के लिए तैयार है, लेकिन केन्द्र का किराए का 15 प्रतिशत हिस्सा मांगना अनुचित है। मुख्यमंत्री का कहना है कि सभी राज्य तीन-चार बार प्रधानमंत्री जीएसटी का पिछला भुगतान मांग रहे हैं, राज्यों में कोई व्यवसायिक गतिविधियां चल नहीं रही हैं, सरकारी कर्मियों को तनख्वाह देने, कोविड-19 संक्रमण से निबटने का फंड नहीं है, ऊपर से केन्द्र सरकार नया बोझ डाल रही है?


45 मिनट में लोन देगा एसबीआई

कविता गर्ग


नई दिल्ली। कोरोना वायरस की वजह से देशभर में लॉकडाउन को 17 मई तक बढ़ा दिया गया है। गैर-जरूरी वस्तुओं के अलावा अन्य सभी तरह की दुकानें और कारोबार लगभग ठप पड़ा हुआ है। कोविड-19 की वजह सबसे अधिक मार मीडिल क्लास पर पड़ी है। यही कारण है कि लोगों के हाथ में खर्च करने के पैसे नहीं है, कुछ लोगों के लिए जीविका चलाना भी मुश्किल हो गया है। देश की अर्थव्यवस्था पर भी इसका असर देखने को मिल रहा है।


ऐसे में अगर आपको पैसों की सख्त जरूरत है तो देश का सबसे बड़ा बैंक यानी भारतीय स्टेट बैंक (SBI) आपकी मदद कर सकता है। एसबीआई बेहद की कम समय में कम ब्याज दर पर 5 लाख रुपये का लोन मुहैया करा रहा है। खास बात है इस लोन के ​लिए आप घर बैठे ही अप्लाई भी कर सकते हैं। आपका यह काम बस 45 मिनट में ही हो जाएगा।


6 महीने तक नहीं देनी होगी EMI


कोरोना वायरस महामारी (Coronavirus Pandemic) के बीच आम लोगों को राहत देते हुए SBI ने इस खास लोन को लॉन्च किया है, जिसमें पहले 6 महीने तक आपको इक्वेटेड मंथली इंस्टॉलमेंट(EMI) भी नहीं देनी होगी। इसका मतलब है कि अगर आप मई में SBI से यह लोन लेते हैं तो आपको अक्टूबर तक इसके लिए कोई EMI नहीं देनी होगी। लोन लेने के 6 महीने के बाद आपकी ईएमआई शुरू होगी।


कितना देना होगा ब्याज?


आप किसी भी समय SBI से पर्सनल इमरजेंसी लोन ले सकते हैं। SBI इस लोन के लिए आपसे सालान 7.25 फीसदी की दर से ब्याज वसूलेगा। कई बैंकों द्वारा वसूले जाने वाले ब्याज की तुलना में यह कम भी है।


आपको कितना लोन मिल सकता है?


अगर आप पर्सनल लोन लेना चाहते हैं तो 2 लाख रुपये तक ले सकते हैं। वहीं, पेंशन लोन के तौर पर यह रकम 2.5 लाख रुपये तक की होगी। जबकि सर्विस क्लास के तौर पर इस लोन की सीमा 5 लाख रुपये तक ही होगी।


कैसे करें SBI पर्सनल इमरजेंसी लोन के लिए आवेदन?


घर बैठे इस लोन के लिए आपको अपने रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर से PAPL टाइप कर स्पेस के बाद अपने अकाउंट नंबर का अंतिम 4 डिजिट लिखकर 567676 पर SMS करना होगा। अगर आप बैंक द्वारा योग्य पाए गए तो महज 4 प्रोसेस में ही आपको लोन मिल जाएगा। आप चाहें तो एसबीआई के YONO SBI ऐप के जरिए भी इस लोन के लिए आवेदन कर सकते हैं। इस ऐप में आपको Avail Now option को चुनना होगा।


इसके बाद आपको लोन की अवधि और अमाउंट को चुनना होगा। इसके बाद आपके रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर एक ओटीपी भेजा जाएगा। इसे ओटीपी को अनिवार्य जगह पर भरने के बाद आपको खाते में लोन ट्रांसफर कर दिया जाएगा।


संकट से निकलने को लेकर चर्चा

नई दिल्ली। कोरोना वायरस महामारी की वजह से देश में लॉकडाउन है और अर्थव्यवस्था की रफ्तार थम गई है। कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने मंगलवार को नोबेल विजेता अभिजीत बनर्जी से खास बात की। इस दौरान दोनों ने अर्थव्यवस्था की चुनौतियां, कोरोना संकट से निकलने को लेकर मंथन किया। नोबेल विजेता अभिजीत बनर्जी ने इस दौरान सलाह दी कि लोगों के हाथ में कैश पहुंचाने की जरूरत है, ऐसे में इस वक्त कर्ज को माफ करना चाहिए और कैश की मदद देनी चाहिए।


राहुल गांधी ने अभिजीत से पूछा कि जब आपने नोबेल पुरस्कार जीता तो क्या वह चौंकाने वाला था? अभिजीत बोले बिल्कुल उन्होंने कभी ऐसा नहीं सोचा था। अभिजीत बनर्जी बोले कि यूपीए सरकार ने काफी अच्छी नीतियां लागू की थीं, लेकिन अब वो सरकार यहां पर लागू नहीं कर रही हैं। यूपीए सरकार ने जिस आधार जैसी योजना को लागू किया था, इस सरकार ने भी उसको सही बताया और उसपर ही काम किया। उन्होंने कहा कि आज के वक्त में इस तरह की सुविधा काफी सही साबित हो सकती थीं, लेकिन ऐसा नहीं हो पाया। इसका मतलब है देशव्यापी योजना लागू नहीं हो पाई है।


बैंकों की चुनौती से किस तरह निपटें?


कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने कहा कि आज कैश की दिक्कत होगी, बैंकों के सामने कई तरह की चुनौती होगी और नौकरी बचाना मुश्किल होगा। इसपर अभिजीत ने कहा कि ये बिल्कुल सच होने जा रहा है, ऐसे में देश में आर्थिक पैकेज की दरकार है। अमेरिका-जापान जैसे देशों ने ऐसा किया है, लेकिन हमारे यहां नहीं हुआ. छोटे उद्योगों की मदद करनी चाहिए, इस तिमाही का ऋण भुगतान खत्म कर देना चाहिए।


राहुल के सवाल पर अभिजीत ने कहा कि भारत में अभी मांग की समस्या है, क्योंकि किसी के पास पैसा नहीं है तो कोई कुछ खरीद ही नहीं रहा है। ऐसे में लोगों को आर्थिक मदद पहुंचाने में किसी तरह की देरी बेकार है। अभिजीत ने कहा कि लॉकडाउन की वजह से जहां पर कारोबार पूरी तरह से ठप है, वहां आर्थिक मदद की ज्यादा जरूरत है।


लॉकडाउन से बाहर निकलने का तरीका क्या?


चर्चा के दौरान राहुल गांधी बोले कि लॉकडाउन से जितनी जल्दी बाहर आया जाए, उतना अच्छा है लेकिन उसके बाद भी एक प्लान होना चाहिए, वरना सारा पैसा बेकार है। इसपर अभिजीत ने कहा कि हमें महामारी के बारे में पता होना चाहिए, लॉकडाउन को बढ़ाने से कुछ नहीं होगा।


राहुल गांधी ने पूछा कि आज देश में राशन कार्ड काफी कम है, लोगों के पास खाना नहीं है। अभिजीत बोले कि हमने इसपर पहले भी सलाह दी है कि सरकार को अभी राशन कार्ड जारी करने चाहिए, जो कम से कम तीन महीने के लिए काम करें और हर किसी को मुफ्त में राशन मिल सके. हर किसी को इस वक्त चावल, दाल, गेहूं और चीनी की जरूरत है। अभिजीत ने कहा कि अगर हर किसी को पैसा पहुंचाना है तो उसके लिए एक वातावरण चाहिए, जिसके पास खाता है उसे मिल सकता है। लेकिन अगर किसी के पास बैंक खाता नहीं है तो उसके बारे में भी सोचना होगा। ऐसे में राज्य सरकारों को अधिक से अधिक मदद देनी होगी, ताकि किसी तरह से आम लोगों तक पैसा पहुंच पाए।


कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने कहा कि बड़े फैसले भले ही केंद्र सरकार ले, लेकिन लॉकडाउन या जमीनी फैसलों को राज्य सरकार को लेने दिया जाना चाहिए। लेकिन, मौजूदा सरकार अलग हिसाब से चल रही है और केंद्र से ही फैसला ले रही है।


अभिजीत ने कहा कि केंद्र को गरीबों के लिए नई योजना लाने की जरूरत है, वहीं राज्यों और जिला अधिकारियों को गरीबों को लेकर सीधा लाभ पहुंचाने की जरूरत है। अभिजीत ने बताया कि इंडोनेशिया इस वक्त लोगों को कैश ट्रांसफर कर रहा है, वह लोगों पर ही छोड़ रहे हैं कि किसे इस वक्त पैसे की जरूरत है। सरकार से अधिक लोगों को पता होता है कि किसे इस वक्त पैसों की जरूरत है। अभिजीत ने कहा कि आज भी कई ऐसी योजनाएं हैं जिनसे लोग नहीं जुड़ पाए हैं, ऐसे में आज ये जरूरत है कि उन लोगों तक भी मदद पहुंचाई जाए। हमें इस बात को भूलना चाहिए कि इससे कुछ लोगों को फायदा पहुंच सकता है, लेकिन इस वक्त रिस्क लेने की जरूरत है क्योंकि ये समय की मांग है।


राहुल गांधी ने पूछा कि 6 महीने के बाद जब बीमारी चली जाएगी तो अर्थव्यवस्था पर क्या होगा। अभिजीत ने कहा कि अभी सबसे बढ़िया तरीका है कि लोगों का कर्ज माफ कर दिया जाए और लोगों को नकदी दी जाए। इसी तरह लोगों को ताकत दी जा सकती है।


डीआरडीओ ने बनाया 'डिसइन्फेक्शन टॉवर'

नई दिल्ली। मॉल, शॉपिंग कॉम्पलेक्स, एयरपोर्ट, स्कूल और मैट्रो स्टेशन जैसी सार्वजनिक जगहों को कोरोना वायरस से डिसइंफेक्ट करने के लिए डीआरडीओ ने अल्ट्रा वायलेट तकनीक से चलने वाले एक खास डिसइंफेक्शन टॉवर को तैयार किया है। वाई-फाई से चलने वाले इस टॉवर से चार सौ फीट स्कॉवयर एरिया को आधे घंटे में कीटाणु रहित बनाया जा सकता है‌। रक्षा मंत्रालय ने बयान जारी कर कहा है कि किसी बड़े एरिया में जहां संक्रमण का खतरा ज्यादा होता है और कैमिकल का इस्तेमाल नहीं करना हो, वहां ये ‘यूवी-बलॉस्टर’ बेहद कारगर है।


जानकारी के मुताबिक, इस यूवी (अल्ट्रा वायलेट) बलास्टर को वाईफाई के जरिए मोबाइल या फिर लैपटॉप से रिमोटली (यानि दूर) से भी ऑपरेट किया जा सकता है। इस मशीन में छह यूवी-सी लैंप लगे हैं. हरेक लैंप 43 वाट का है और 360 डिग्री यानि चारों दिशाओं में रोशनी फेंकता है। एक मशीन 12×12 फीट के कमरे को 10 मिनट में कोरोना वायरस मुक्त बनाने का दावा डीआरडीओ ने किया है। चार सौ स्कॉवयर फीट के कमरे को आधे घंटे में कोविड-19 वायरस से फ्री किया जा सकता है।


इस‌ डिसइंफेक्टेंट टॉवर को डीआरडीओ यानि डिफेंस रिसर्च एंड डेवलपमेंट ऑर्गेनाइजेशन ने गुरूग्राम की एक प्राईवेट कंपनी के साथ मिलकर तैयार किया है। मॉल, शापिंग कॉम्पलेक्स, स्कूल, मैट्रो स्टेशन आदि को कोरोना मुक्त रखने के लिए ये यूवी बलॉस्टर काफी मदद कर सकता है। साथ ही ऐसे दफ्तर और लैब जहां पर कम्पयूटर और दूसरे हाईटेक इक्यूपमेंट जिन्हें किसी कैमिकल से असंक्रमित करना मुश्किल होता है वहां भी इस टॉवर को इस्तेमाल कोरोना वायरस से लड़ने में किया जा सकता है।


भारत में तेजी से बढ़ रहा है संक्रमण

नई दिल्ली। भारत में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या में लगातार बढ़ोतरी हो रही है। केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय की ओर से जारी आंकड़ों के अनुसार, बीते 24 घंटे में 3900 नए मामले सामने आए हैं और 195 लोगों की मौत हुई है। यह संख्या अब तक भारत में सर्वाधिक है। इसके बाद देशभर में कोरोना पॉजिटिव मामलों की कुल संख्या 46,433 हो गई है। जिसमें 32,138 सक्रिय हैं, 12,727 लोग स्वस्थ हो चुके हैं या उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है और 1,568 लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं, आज राजस्थान में 38 नए मामले दर्ज किए गए हैं।


इजरायल के रक्षा मंत्री का दावा, हमने बनाया कोरोना वायरस के खात्‍मे का वैक्‍सीन


इजरायल के रक्षा मंत्री नफताली बेन्‍नेट ने सोमवार को दावा किया कि देश के डिफेंस बायोलॉजिकल इंस्‍टीट्यूट ने कोरोना वायरस का टीका बना लिया है। उन्‍होंने कहा कि इंस्‍टीट्यूट ने कोरोना वायरस के एंटीबॉडी को तैयार करने में बड़ी सफलता हासिल की है। रक्षा मंत्री बेन्‍नेट ने बताया कि कोरोना वायरस वैक्‍सीन के विकास का चरण अ‍ब पूरा हो गया है और शोधकर्ता इसके पेटेंट और व्‍यापक पैमाने पर उत्‍पादन के लिए तैयारी कर रहे हैं।इजरायल के पीएम बेंजामिन नेतन्‍याहू के कार्यालय के अंतर्गत चलने वाले बेहद गोपनीय इजरायल इंस्‍टीट्यूट फॉर बायोलॉजिकल रीसर्च के दौरे के बाद बेन्‍नेट ने यह घोषणा किया। रक्षा मंत्री के अनुसार यह एंटीबॉडी मोनोक्‍लोनल तरीके से कोरोना वायरस पर हमला करती है और बीमार लोगों के शरीर के अंदर ही कोरोना वायरस का खात्‍मा कर देती है।


बयान में कहा गया है कि कोरोना वायरस के वैक्‍सीन के विकास का चरण अब पूरा हो गया है। डिफेंस इंस्‍टीट्यूट अब इस टीके को पेटेंट कराने की प्रक्रिया में है। इसके अगले चरण में शोधकर्ता अंतरराष्‍ट्रीय कंपनियों से व्‍यवसायिक स्‍तर पर उत्‍पादन के लिए संपर्क करेंगे। बेन्‍नेट ने कहा, ‘इस शानदार सफलता पर मुझे इंस्‍टीट्यूट के स्‍टाफ पर गर्व है।’ रक्षा मंत्री ने अपने बयान में यह नहीं बताया कि क्‍या इस वैक्‍सीन का इंसानों पर ट्रायल किया गया है या नहीं।


शराब पर 70 प्रतिशत कोरोना टैक्स

नई दिल्ली। देश में शराब की बिक्री शुरू होने के बाद कई सरकारों ने अपने अपने राज्य में शराब पर कोरोना टैक्स लगा दिया है। इसके बाद भी पीने वाले मान नहीं रहे हैं। दिल्ली सरकार ने शराब पर भारी भरकम कोरोना टैक्स लगाया है।
दिल्ली सरकार ने आज से शराब पर विशेष कोरोना टैक्स लगाने का ऐलान किया है। ये टैक्स हल्का फुल्का नहीं है बल्कि सरकार ने शराब पर सत्तर फीसदी का भारी भरकम टैक्स लगाया है। जिसके चलते शराब के दाम 70 प्रतिशत बढ़ गए हैं। इसके बाद भी राजधानी दिल्ली के शराब प्रेमियों के उत्साह में कोई कमी नहीं आई है। शराब प्रेमी आज सुबह से ही लंबी कतारों में लगकर दुकान खुलने का इंतजार कर रहे हैं और अब भी लाइन में लगकर अपनी बारी आने का इंतजार कर रहे हैं। लोग सुबह साढ़े पांच बजे से कतारों में खड़े हैं।
दरअसल, दिल्ली सरकार ने शराबियों को हतोत्साहित करने के लिए और सरकारी राजस्व बढ़ाने के मकसद से भारीभरकम कोरोना शुल्क लगा दिया है। शुल्क की दर एमआरपी पर 70 फीसदी होंगी और आज सुबह से टैक्स की नई दरें लागू हो गई हैं। इसके बाद भी शराब प्रेमी ये कीमत चुकाने के लिए तैयार हैं। हाल ये है कि कई जगह भीड़ के चलते दुकानें भी बंद करा दी गई। बावजूद इसके भीड़ कम नहीं हुई।


'शास्त्री भवन' में संक्रमण, भवन सील

नई दिल्ली। दिल्ली के लुटियंस जोन के सबसे महत्वपूर्ण बिल्डिंग में से एक शास्त्री भवन में भी कोरोना ने दस्तक दे दी है। कानून मंत्रालय में कार्यरत एक अधिकारी को कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। जिसके बाद शास्त्री भवन के चौथे माले को सील कर दिया है और बिल्डिंग को सेनिटाइज किया गया है। जानकारी के मुताबिक, संक्रमित अधिकारी कानून मंत्रालय में डिप्टी सेक्रटरी हैं। वह आखिरी बार 23 अप्रैल को दफ्तर आए थे, उनका कोरोना टेस्ट एक मई को पॉजिटिव आया है। उनके पिता भी कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं।


नीट-जी एग्जाम डेट का सस्पेंस खत्म

नई दिल्ली। आखिरकार राष्ट्रीय पात्रता सह प्रवेश परीक्षा (NEET) और ज्वाइंट एंट्रेंस एग्जामिनेशन मेन (JEE Main) के एग्जाम डेट का सस्पेंस खत्म हुआ। देशभर में लाखों स्टूडेंट्स और उनके पैरेंट्स को लॉकडाउन के कारण परीक्षाएं टलने की खबर के बाद से ही इसका इंतजार था।


अब केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री (HRD Minister) डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक ने इन परीक्षाओं की तारीखों की घोषणा कर दी है। केंद्रीय मंत्री ने स्टूडेंट्स से बात करने के लिए आयोजित वेबिनार में नीट 2020 (NEET 2020) और जेईई मेन 2020 (JEE Main 2020) की तारीखों का एलान किया है। केंद्रीय मंत्री ने बताया है कि जेईई मेन 2020 की परीक्षा 18 जुलाई 2020 से शुरू होकर 23 जुलाई 2020 तक आयोजित की जाएगी। वहीं, नीट यूजी 2020 का आयोजन 26 जुलाई 2020 को किया जाएगा। नीट में इस बार 16 लाख से ज्यादा उम्मीदवार शामिल हो रहे हैं।


डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक का यह वेबिनार ट्विटर और फेसबुक के जरिए हुआ। #EducationMinisterGoesLive के साथ ट्विटर और फेसबुक पर देशभर के कई स्टूडेंट्स ने उनसे लॉकडाउन (Lockdown) के बीच पढ़ाई, एडमिशन व रिजल्ट्स को लेकर सवाल पूछे। कुछ ने सलाह भी दिए। केंद्रीय मंत्री ने कई स्टूडेंट्स के सवालों के जवाब दिए।


नकली किट बेचने वालों के खिलाफ कार्रवाई

नई दिल्ली। कोरोना वायरस से जंग के बीच देश में पर्सनल प्रॉटेक्शन इक्विपमेंट (पीपीई) किट की बढ़ती मांग को देखते हुए कुछ कारोबारियों ने खादी इंडिया के नाम पर नकली किट बेचने का काम शुरू कर दिया है। दिलचस्प बात यह है कि खादी इंडिया ब्रैंड नाम की सत्वाधिकारी खादी एवं ग्रामोद्योग आयोग (KVIC) ने अभी तक इस तरह के किट को बाजार में उतारा ही नहीं है। अब जबकि खादी के नाम पर किट बेचे जा रहे हैं तो केवीआईसी ने ऐसे कारोबारियों के खिलाफ कार्रवाई का निर्णय लिया है।


केंद्रीय एमएसएमई मंत्रालय, जिसके तहत केवीआईसी काम करता है, के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि बाजार में खादी इंडिया के ब्रैंड नाम से नकली पीपीई किट बिकने की सूचना मिली है। वे मैन मेड फाइबर से बने कपड़ों से पीपीई किट बना रहे हैं। यह पूरी तरह से नकली है, क्योंकि खादी इंडिया के पीपीई किट डबल-ट्विस्टेड हैंड-स्पन, हाथ से बुने हुए खादी कपड़े का उपयोग पीपीई किट बनाने में करता है। इसलिए, पॉलिस्टर और पॉलीप्रोपाइलीन जैसे गैर-बुनी सामग्री से बने किट न तो खादी उत्पाद हैं और न ही केवीआईसी उत्पाद।


होगी कानूनी कार्रवाई


केवीआईसी के अध्यक्ष विनय कुमार सक्सेना का कहना है कि केवीआईसी ने खादी कपड़े से बने अपने स्वयं के पीपीई किट का विकास किया है, जो परीक्षण के विभिन्न स्तरों पर है। अभी तक केवीआईसी ने खादी पीपीई किट को बाजार में नहीं उतारा है। पीपीई किट को ‘खादी इंडिया’ के नाम पर धोखे से बेचना अवैध है। साथ ही, वे हमारे डॉक्टरों और अन्य स्वास्थ्यकर्मियों की सुरक्षा के लिए गंभीर खतरा पैदा करते हैं, जो कोरोना बीमारी के मामलों से नियमित रूप से निपट रहे हैं। सक्सेना ने कहा कि केवीआईसी ऐसे धोखेबाजों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई पर विचार कर रहा है।


दिल्ली की कंपनी बना रही नकली किट


केवीआईसी के डिप्टी सीईओ सत्य नारायण के संज्ञान में आया कि दिल्ली की कोई निचिया कॉर्पोरेशन नाम की कंपनी इस तरह का नकली किट बनाकर बाजार में बेच रही है। उनका कहना है कि अभी तक केवीआईसी ने कोई भी पीपीई किट बाजार में नहीं उतारा है और न ही इसे किसी निजी एजेंसी को आउटसोर्स किया है।


इस समय सिर्फ फेस मास्क


मंत्रालय का कहना है कि इस समय केवीआईसी सिर्फ विशेष रूप से डिजाइन किए गए खादी फेस मास्क का उत्पादन और वितरण कर रहा है, जो उच्चतम सुरक्षा मानकों के अनुरूप है। इन मास्क के निर्माण के लिए डबल-ट्विस्टेड खादी कपड़े का उपयोग किया जा रहा है, क्योंकि यह 70% नमी सामग्री को बनाए रखने में मदद करता है। इसके अलावा, ये मास्क हाथ से बने हुए और हाथ से बुने हुए खादी के कपड़े से बने होते हैं, जो सांस लेने योग्य, धोने योग्य और बायोडिग्रेडेबल होते हैं।


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

यूनिवर्सल एक्सप्रेस    (हिंदी-दैनिक)


मई 06, 2020, RNI.No.UPHIN/2014/57254


1. अंक-269 (साल-01)
2. बुधवार, मई 06, 2020
3. शक-1943, वैशाख, शुक्ल-पक्ष, तिथि- त्रयोदशी, विक्रमी संवत 2077।


4. सूर्योदय प्रातः 05:50,सूर्यास्त 07:02।


5. न्‍यूनतम तापमान 23+ डी.सै.,अधिकतम-35+ डी.सै., तेज हवाएं चलने की संभावना।


6.समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है।
7. स्वामी, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहींं है।


8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102।


9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.,201102


https://universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
cont.:-935030275
 (सर्वाधिकार सुरक्षित)


 


 


दोनों देशों से अपने राजदूतों को वापस बुलाया

वाशिंगटन डीसी/ पेरिस। अमेरिका के सबसे पुराने सहयोगी फ्रांस ने परमाणु पनडुब्बी सौदा रद्द करने पर अप्रत्याशित रूप से गुस्सा दिखाते हुए अमेरिका...