मंगलवार, 1 सितंबर 2020

भारत ने चीन को दिया मुंहतोड़ 'जवाब'

चीन को मुंहतोड़ जवाब: भारतीय सेना ने अहम जगह पर किया कब्जा…ऊंचाई पर तैनाती का मिलेगा फायदा…बिलबिलाया चीन…दी ये चेतावनी…


नई दिल्ली/ बीजिंग। चालबाज चीन एलएसी पर अपनी नापाक हरकत से बाज नहीं आ रहा है। ईस्टर्न लद्दाख इलाके में पैंगोंग लेक के पास चीनी सैनिकों ने फिर घुसपैठ की कोशिश की।हालांकि भारतीय सेना के जवानों ने धोखेबाज चीन की इस कोशिश को नाकाम कर दिया।
सूत्रों के मुताबिक, एलएसी पर तनातनी के माहौल को देखते हुए भारतीय सेना की विकास रेजिमेंट बटालियन उत्तराखंड से पैंगोंग लेक के दक्षिणी तट के पास तैनात की गई।बटालियन ने एक स्ट्रैटेजिक हाइट पर कब्जा कर लिया, जो वास्तविक नियंत्रण रेखा पर भारत के क्षेत्र में निष्क्रिय था।
चीनी ये भी दावा करता है कि यह क्षेत्र उनके क्षेत्र में स्थित है।चीनियों का इरादा उस ऊंचाई पर कब्जा करना था।इसे कब्जे में रखने वाले पक्ष को झील और आसपास के दक्षिणी तट को नियंत्रित करने में रणनीतिक लाभ मिल सकता है।
भारतीय सेना को चीन की इस प्लानिंग का आभास था। ऐसे में चीन की ओर से कोई कदम उठाने से पहले यह निर्णय लिया गया था कि इस स्ट्रैटजिक हाइट पर सेना की टुकड़ी को तैनात करना चाहिए।हालांकि ब्रिगेड के कमांडर स्तर की बैठकें पहले ही चुशूल और मोल्डो में आयोजित की जा चुकी हैं ताकि मामले को सुलझाया जा सके, लेकिन इसका कोई परिणाम नहीं निकला है।
भारत ने थाकुंज के पास ऊंचाई वाले क्षेत्रों में पैदल सेना के लड़ाकू वाहनों और टैंकों सहित हथियारों को स्थानांतरित कर दिया है।पूरे ऑपरेशन में शामिल सैनिकों में भारतीय अधिकारियों के साथ-साथ विकास रेजिमेंट के तहत काम करने वाले तिब्बती भी शामिल हैं।
उधर चीनी सेना ने भारत की इस सैन्य कार्रवाई का विरोध किया है और कहा है कि वह भारत को तनाव से बचने के लिए चीन-भारत सीमा से अपने सैनिकों को वापस लेने की मांग करती है। चीन का कहना है कि भारत ने कमांडर और राजनयिक स्तर पर हुई सहमति का पालन नहीं किया है और एलएसी पर चीन के इलाके में चार किलोमीटर अंदर घुस गयी है।           


पतंग के साथ सौ फीट हवा में उछली बच्ची

पतंग के साथ 100 फीट हवा में उछली 3 साल की लड़की, जैसे-तैसे बची जान।
तााापे। इइताइवान में पतंग उत्सव के दौरान एक तीन साल की लड़की हादसे का शिकार होने से बाल-बाल बच गई। दरअसल पतंग को उड़ाने के दौरान उसकी एक डोर बच्ची बच्ची से लिपट गई और वह हवा में 100 फीट तक उछल गई।
ताइपे ताइवान में पतंग उत्सव के दौरान एक तीन साल की लड़की हादसे का शिकार होने से बाल-बाल बच गई। दरअसल पतंग को उड़ाने के दौरान उसकी एक डोर बच्ची बच्ची से लिपट गई और वह हवा में 100 फीट तक उछल गई। इस दौरान मौके पर मौजूद लोगों ने किसी तरह लड़की को बचा लिया। अब इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया में तेजी से वायरल हो रहा है।
जमीन से 100 फीट ऊपर उछली
रिपोर्ट्स के अनुसार, ताइवान के सिंचु शहर में पतंग उत्सव का आयोजन किया जा रहा है। देश के कोने-कोने से पतंगबाज इस उत्सव में करतब दिखाने के लिए इकट्ठा हुए हैं। रविवार को जब यहां भीड़ के बीच एक पतंगबाज नारंगी रंग की बड़ी सी पतंग को उड़ा रहा था, तभी उसकी एक डोर 3 साल की लड़की से उलझ गई। 60 किलोमीटर प्रतिघंटे से चल रही हवाओं के कारण लड़की देखते ही देखते हवा में 100 फीट ऊपर तक उछल गई।30 सेकेंड तक हवा में रही लड़की
इस घटना को देख वहां मौजूद लोग भी सहम गए। इस दौरान वह छोटी लड़की हवा में 30 सेकेंड के आसपास रही। लोगों ने तत्परता दिखाते हुए लड़की को बचा लिया। जिसकी पहचान लिन के रूप में हुई है। इस हादसे में लड़की को मामूली चोट ही आई है।
तय समय से पहले खत्म होगा त्योहार
शिंचु शहर के एक अधिकारी ने बताया कि अचानक आए हवा के तेज झोके के कारण पतंग लड़की से उलझ गई थी। इस कारण स्थानीय प्रशासन ने पतंग उत्सव के आयोजकों से इसे जल्द से जल्द खत्म करने का आदेश दिया है।                         


महिला के मुंह में घुसा 4 फुट लंबा सांप

अजीबो गरीब मामला - 4 फ़ीट लम्बा सांप सोते वक्त महिला के मुंह में घुसा।


दागिस्तान। आप लोग कभी न कभी अजीबो गरीब मामला सुना या देखा जरूर होगा। लेकिन आज हम आप लोगो को एक ऐसे अजीबो गरीब एवं बहुत ही खतरनाक घटना की जानकारी बता रहे है जिसको सुनकर अच्छों - अच्छों के पसीना छूट जाये। 
आप सबको पता ही होगा कि सांप का नाम सुनते ही हाँथ पैर में सिहरन पैदा हो जाता है। सांप चाहे विषैला हो या विषहीन हम सब उनसे बहुत डरते है। जैसा की हम अचानक से सांप देखते है तो घबरा जाते है। लेकिन उनका क्या हुआ होगा जिनके मुंह में 4 फ़ीट लम्बा सांप घुस जाये। जानिए इस अजीबो गरीब मामले के बारे में यहाँ।
दरअसल यह अजीबो गरीब मामला रूस से सामने आया है , जिसमे एक महिला के मुंह में सांप घुस गया। दागिस्तान की रहने वाली महिला अपने घर में सो रही थी। इसी दौरान महिला के मुंह में करीब 4 फ़ीट लम्बा सांप घुस गया। महिला को परेशानी होने के बाद अस्पताल ले जाया गया। 
उक्त महिला को अस्पताल ले जाते ही डॉक्टरों ने एक ट्यूब के जरिये उनके मुंह से 4 फ़ीट लम्बे सांप को निकाला गया। इस घटना का एक वीडियो भी सामने आया है जिसमे डॉक्टर महिला के मुंह से सांप निकालते दिख रहे है। डाक्टरों ने बड़ी मशक्कत कर महिला के मुंह में एक ट्यूब डाला गया जिसके मदद से सांप को खींचकर बाहर निकाला जा सका। 
सांप निकालते हुए डॉक्टर भी बहुत घबराये, डरे हुए थे।  सांप जैसे ही बाहर आया सांप को एक टब में रखा गया। महिला के मुंह में घुसने वाला सांप जिन्दा बाहर आया या मर गया था इसके बारे में सटीक जानकारी नहीं है। उक्त सांप को देखकर महिला एकदम घबरा गयी थी। 
डाक्टरों ने दिया सलाह - आम तौर पर ऐसी घटना बहुत कम होती है लेकिन बहुत से लोग बाहर खुली जगह पर सो जाते है जो खतरनाक साबित हो सकता है। यदि आप मज़बूरी में सो रहे है तो अलग बात है लेकिन यदि आप साधन संपन्न है तो खुले में या घर के बाहर कभी भी नहीं सोने चाहिए। सोते समय बच्चों का विशेष ध्यान रखना चाहिए ।                  


1 लड़के को सर्प ने 1 महीने में 8 बार काटा

बस्ती। उत्तर प्रदेश के बस्ती जिले के एक गांव में एक विचित्र मामला सामने आया है। यहां के एक किशोर लड़के ने दावा किया है कि उसे एक ही सांप ने महीने में 8 बार काटा है। हैरानी की बात यह है कि लड़का अब तक जीवित है। रामपुर गांव का यशराज मिश्र इस दौरान कई बार अस्पताल में भर्ती हुआ है। सांप द्वारा उस पर अंतिम हमला लगभग एक सप्ताह पहले 25 अगस्त को किया गया था। अब परिजनों ने गांव में सपेरों से मदद मांगी है। लड़के के पिता चंद्रमौली मिश्रा ने कहा, “जब मेरे बेटे को तीसरी बार सांप ने काटा, तब मैंने उसे अपने रिश्तेदार रामजी शुक्ला के पास बहादुरपुर गांव में भेज दिया। कुछ दिनों बाद मेरे बेटे ने घर के पास फिर से उसी सांप को देखा और उसने उसे फिर से काट लिया। यशराज को अस्पताल में भर्ती किया गया और फिर उसका इलाज हुआ।”


परिवार ने कहा है कि वे 17 वर्षीय लड़के को इलाज के लिए गांव के डॉक्टर के पास ले जा रहे हैं। साथ ही सांपों को दूर रखने के लिए वैकल्पिक तरीके भी अपना रहे हैं।


पिता ने आगे कहा, “हम समझ नहीं पा रहे हैं कि यह सांप यशराज को ही क्यों निशाना बना रहा है। लड़का अब मानसिक रूप से परेशान है और सांप के कारण पूरे समय खौफ में रहता है। हमने कई बार ‘पूजा’ की है और सांप को पकड़ने के लिए सपेरों को भी बुलाया है, लेकिन सब व्यर्थ साबित हुआ।             


पूर्व 'राष्ट्रपति' को नेताओं ने दी श्रद्धांजलि

नई दिल्ली। कांग्रेस नेता राहुल गांधी, पूर्व केंद्रीय मंत्री पी. चिदंबरम, कपिल सिब्बल और कई अन्य कांग्रेस नेताओं ने पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी को श्रद्धांजलि दी। मुखर्जी का राष्ट्रीय राजधानी में आर्मी के एक अस्पताल में सोमवार को निधन हो गया था। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्वीट किया, “हमारे देश के पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के निधन की खबर से बेहद दुखी हूं। उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं। शोक संतप्त परिवार और दोस्तों के प्रति मेरी गहरी संवेदनाएं हैं।”


सिब्बल ने ट्वीट में कहा, “प्रणब मुखर्जी एक प्रकांड व्यक्ति थे, जो दशकों से राजनीतिक ²ढ़ता से आगे बढ़ रहे थे। उन्होंने कांग्रेस पार्टी को हमेशा अपने कौशल और ज्ञान से मार्गदर्शन दिया। विपक्ष में रहने के दौरान भी हमेशा उनके विचारों में एक बल दिखा। वह संवैधानिक प्रक्रिया में ²ढ़ता से विश्वास करते थे। आज भारत ने अपना एक महान बेटा खो दिया है।”


कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अधीर रंजन चौधरी ने ट्वीट की श्रृंखला में कहा, “भारत के पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का दुखद निधन मेरे लिए गहरे संताप का क्षण है। वह एक ऐसे संस्थान की तरह थे, जिसने अपने पूरे राजनीतिक करियर के दौरान राष्ट्र के विकास के लिए अपनी सारी ऊर्जा लगा दी। वह भारत के मुकुट में लगे अनमोल रत्न थे, जिसके लिए राष्ट्र का हित सर्वोपरि था। वह अपने सभी सद्गुणों के साथ सच्चे राजनेता थे। ईश्वर उनकी आत्मा को शांति प्रदान करे।”


कांग्रेस के महासचिव (संगठन) के.सी. वेणुगोपाल ने ट्वीट किया, “इस दु:ख की घड़ी में प्रणब दा के परिवार के प्रति गहरी संवेदनाएं। प्रणब दा एक अविश्वसनीय नेता, पिता और मित्र थे। राष्ट्र के लिए दिए गए उनके अनगिनत योगदानों के लिए उन्हें हमेशा याद किया जाएगा। मैं उनके मार्गदर्शन और प्यार के लिए उन्हें हमेशा याद करूंगा।”


पूर्व वित्त मंत्री पी.चिदंबरम ने एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, “इस देश में ऐसा कोई नहीं है जो प्रणब मुखर्जी के जीवन और योगदान को नहीं जानता है। मैंने उनके साथ कई साल तक काम किया, खास करके 2004 से 2014 के बीच उनके बहुत निकट रहा। उनके निधन से न केवल कांग्रेस बल्कि इस देश के पूरे राजनीतिक स्पेक्ट्रम ने एक बहादुर सैनिक को खो दिया है। कांग्रेस में हमारे लिए यह एक अपूरणीय क्षति है।”           


पुलिस को 1 ही दिन मिली 3 बड़ी कामयाबी

अतुल त्यागी, मुकेश सैनी


गढ़मुक्तेश्वर पुलिस को मिली एक ही दिन में तीन बड़ी कामयाबी


गढ़मुक्तेश्वर/ हापुड़। कोतवाली प्रभारी निरीक्षक मुकेश कुमार के नेतृत्व में पुलिस टीम ने दो शातिर चोरों को गिरफ्तार किया है।जिनके कब्जे से चोरी किए गए बैटरी इनवर्टर सहित माल भी बरामद किया गया है। चोर आस मोहम्मद व नदीम निवासी गांव बदरखा थाना गढ़मुक्तेश्वर को मुखबिर की सूचना पर गिरफ्तार किया गया है।


गढ़मुक्तेश्वर कोतवाल मुकेश कुमार व उनकी पुलिस टीम ने मुखबिर की सूचना पर गुंडा एक्ट व जिला बदर के आरोपी ऋषि पाल निवासी गांव इनायतपुर गढ़मुक्तेश्वर को गिरफ्तार किया है। जिसके कब्जे से एक अवैध तमंचा व कारतूस बरामद किए हैं। यह आरोपी शराब माफिया से लेकर और भी कई मामलों में लिप्त है। गढ़मुक्तेश्वर पुलिस की कामयाबी नंबर 3ः गढ़मुक्तेश्वर कोतवाली प्रभारी मुकेश कुमार व उनकी टीम ने सट्टा व जुए की रोकथाम को लेकर अभियान चलाया हुआ है। जिसके चलते सूत्रों से जानकारी मिलने पर इस्तेकार मोहल्ला बड़ा बाजार निवासी गढ़मुक्तेश्वर को गिरफ्तार किया है। इसके 2 साथी हाफिज बदरुद्दीन व मनोज भागने में कामयाब रहे।आरोपी के कब्जे से ₹50000 की नगदी तीन सट्टे के पर्चे एक मोबाइल,एक पैन व 1 कॉपी बरामद पुलिस ने की है।           


एक्सप्रेस बाइक सवार युवक पर पुलिस का वार

अतुल त्यागी, मुकेश सैनी


हापुड़ कप्तान के सामने बाइक को शताब्दी एक्सप्रेस बनाना पड़ा भारी- युवक के उतारे हापुड़ कप्तान संजीव सुमन ने खुलेआम जनता के सामने भूत


हापुड़। जनपद के थाना पिलखुवा कोतवाली क्षेत्र के मारवाड़ चौकी क्षेत्र के अंतर्गत सहकारी ग्राम विकास बैंकों के चुनाव के दौरान स्थल के बाहर, एक युवक ने बाइक को बनाया शताब्दी एक्सप्रेस, तोड़े सभी नियम और कानून ,पड़ा युवक को ही भारी, हापुड़ तेजतर्रार कप्तान संजीव सुमन ने उतारे खुले आम जनता के सामने शताब्दी एक्सप्रेस बाइक सवार के भूत, जहां पर युवक बाइक को लेकर बनाफर रहा था शताब्दी एक्सप्रेस जनता को कर रखा था परेशान, आया किसी तरह से हापुड़ कप्तान के कब्जे में सिखाया सबक, आम जनता और पुलिस प्रशासन के सामने ही उतार दिए। शताब्दी एक्सप्रेस बाइक सवार युवक के खुलेआम भूत, युवक को पिलखुवा पुलिस ने लिया अपने कब्जे में, जिसको कुछ देर के बाद छोड़ दिया गया समझा कर, जहां पर दिन-रात हापुड़ पुलिस प्रशासन करती है आम जनता के लिए काफी मेहनत मगर नहीं समझ पाते आजकल के युवक, बना देते हैं। बाइक को ही शताब्दी एक्सप्रेस और मुंबई मेल, बैठकर बाइक पर भूल जाते हैं सभी को नहीं करते अपनी जिंदगी और दूसरे की जिंदगी की परवाह, पड़ जाती है। प्रशासन के ही गले मुसीबत, मगर स्वयं नहीं देख पाते अपनी गलती भी, जहां पर बाइक पर बैठते ही कर देते हैं। बाइक का मीटर फेल, नहीं देखते आगे पीछे दाएं बाएं बस एक्सीलेटर बढ़ाया और बाइक को मुंबई एक्सप्रेस बनाया, नहीं देखते नियम और कानून बन जाते हैं बड़े पायलट पड़ जाता है स्वयं पर भारी।               


हापुड़ः बैंक चुनाव के दौरान हुआ हंगामा

अतुल त्यागी, प्रवीण कुमार


जनपद हापुड़ के पिलखुआ में उत्तर प्रदेश ग्राम विकास बैंक के चुनाव के दौरान हंगामा
हापुड़। चुनाव के दौरान युवा लड़को ने किया उपद्रव,उपद्रव करने वाले लड़को के पुलिस सख्त,उपद्रवी लड़के की एसपी हापुड़ ने कि पिटाई,मतदान स्थल के बाहर एसपी हापुड़ ने उपद्रवी लड़के को लगाए तमाचे,चुनाव को शांति पूर्वक सफल कराने में हापुड़ पुलिस दिखी नाकाम।                


जन के सुख-दुख को महत्व देता है राजा

आलेख : जो जनता के कोष के प्रति अपने सत्ता-स्वार्थों और महत्व स्थापना के लिए स्वेच्छाचार बरतता है, वह कभी भी भारतीय शास्त्रों के अनुसार अच्छा शासक नहीं हो सकता


कल विष्णु पुराण में विष्णु अपनी जीवन संगिनी लक्ष्मी से कह रहे थे कि जो शासक जनता के कोष के प्रति अपने सत्ता स्वार्थों और महत्व स्थापन के लिए स्वेच्छाचार बरतता है, वह कभी भी भारतीय शास्त्रों के अनुसार अच्छा शासक नहीं हो सकता। सच्चा भारतीय शासक वही है जो असुर सम्राट प्रह्लाद और पुत्र विलोचन की तरह हमेशा अपनी जनता के सुख से सुखी और उसके दुख को अपना दुख मानता है। राजकोष को अपने बाप की जागीर नहीं समझता। उसे जनकल्याणकारी कामों पर खर्च न कर आत्मसुरक्षा,आत्मदंभ के स्थापन के लिए बरतता है।ऐसा शासक जनता का सच्चे हितों का विरोधी शासक है।वह भारतीय शासकों की श्रेष्ठ पंक्ति में कभी आ ही नहीं सकता।
अब तो स्थिति और आगे निकल गई है। राजधानियों को चमकाने पर खूब खर्च किया जा रहा है।दूसरी ओर सड़क और पुल के अभाव में जनता डूब रही है, बेघर हो रही है।मूर्तियों और मंदिरों पर भारी बजट बढ़ा कर और खर्च कर जनता के पुलों और सड़कों के हिस्से का पैसा डकारा जा रहा है। क्या हम कभी सोचेंगे कि बजट का कितना हिस्सा सरकार और उसकी नौकरशाही के बीच बंदरबाट के हिस्से चला जाता है।तब सड़कें और पुल क्या ईमानदारी से बन पाएँगे।
जरा लालकिले,ताजमहल ,हबड़ा का पुल देखिए. ये सदियों से खड़े हैं और दूसरी ओर हमारे जनप्रतिनिधियों द्वारा बिहार,मध्यप्रदेश में बनवाए जाते पुलों को देखिए. ये सब लोग राम के भक्त होने का पाखंड करते हैं।क्या हमारे राम ऐसे और यही थे?
क्या यही रामराज्य और धर्म का शासन है?
मित्रो!जरा यह भी सोचिए
देवताओं का भक्त तो रावण भी कुछ कम नहीं था पर वह त्रास पैदा करता था,अन्याय करता था,इसलिए धर्म और संस्कृति के इतिहास में वह और बाद के कंस,जरासंध, शकुनि, धृतराष्ट्र, दुर्योधन, यहाँ कि इनके पक्ष में खड़े भीष्म,द्रोणाचार्य, कर्ण,सबका वध हुआ।तब आज जो कुछ हो रहा और किया जा रहा लह क्या है?
हमें यह भी जान लेना होगा कि असुर या राक्षस भी आर्यों के ही वंशज थे। देवता और असुर एक ही पिता और उनकी दो पत्नियों—दिति और अदिति- के पुत्र,अर्थात सौतेले भाई थे।असल प्रश्न दुनिया में जीने के ढंग को लेकर उनकी अपनी जीवन दृष्टियों का था।यही तो देवासुर संग्राम का कारण बनती गई।देवता महाभोगी ,ईष्यालु, कुटिल राजनीति करने में माहिर


जिसके प्रमाण इन्द्र स्वयं–थे.
यह भी सोचिए कि इन्द्र से उसकी सत्ता उसके ही छोटे भाई विष्णु ने क्यों छीन ली?
यह सब आर्यवंश के भीतर ही हुआ आज जो भारत विष्णु का और उनके अवतारों राम-कृष्ण आदि का भक्त है वही इससे पहले इन्द्र का भक्त था. वेदों के तमाम मंत्र और यज्ञों की आहुतियां इन्द्र के प्रति समर्पित हैं।पर आज तो विष्णु ही सब कुछ हैं। इससे यह भी मानकर चलिए कि भारत के लोग यदि जरूरत से ज्यादा सहिष्णु हैं तो मौका आने पर वे जरूरत से ज्यादा कठोर भी हैं. ऋषिकवि वाल्मीकि राम के गुणों का बखान करते हुए यही तो कहते हैं कि राम कुसुम जितने कोमल किन्तु बज्र जितने कठोर भी हैं।           
सोचिए ,अपनी परंपरा को पहचानिए।


गाजियाबादः सेवानिवृत्ति समारोह आयोजित

अश्वनी उपाध्याय


गाज़ियाबाद। जनपद पुलिस लाइन गाज़ियाबाद में वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक गाजियाबाद कलानिधि नैथानी की अध्यक्षता में सेवानिवृत्ति समारोह का आयोजन हुआ हैं। जिसमें, छह पुलिस अधिकारी/ कर्मचारी अपनी सेवा पूर्ण कर सेवानिवृत्त हुए।


आपको बता दें कि पुलिस लाइन गाज़ियाबाद में पुलिस अधिकारी/कर्मचारी जिनमें मुनेंद्र प्रताप सिंह (प्रतिसार निरीक्षक), उपनिरीक्षक रामदेव शर्मा, उपनिरीक्षक विनोद कुमार, मुख्य आरक्षी हरिभान सिंह, मुख्य आरक्षी निरंजन लाल और मुख्य आरक्षी विजय कुमार अपनी सेवा पूर्ण कर सेवानिवृत्त हुए हैं।


गौरतलब है कि एसएसपी कलानिधि नैथानी द्वारा इस अवसर पर सेवानिवृत्त हुए पुलिस अधिकारी/ कर्मचारियों को प्रतीक चिन्ह भेंट एवं शॉल ओढ़ाकर सम्मानित किया गया हैं। इतना ही नहीं, इनके द्वारा की गई पुलिस विभाग की सेवा एवं विभाग को दिए गए इनके योगदान के लिए इन्हें धन्यवाद देते हुए इनके अग्रिम जीवन की शुभकामनाएं दी। वहीं, नवनियुक्ति पर प्रतिसार निरीक्षक उदल सिंह का जनपद में आगमन हुआ हैं। इस अवसर पर पुलिस अधीक्षक ग्रामीण/लाइंस, पुलिस अधीक्षक यातायात, एएसपी/क्षेत्राधिकारी लाइन प्रतिसार निरीक्षक एवं अन्य अधिकारी गण समेत आदि पुलिसकर्मी उपस्थित रहें हैं।                        


भाजपा मेरठ क्षेत्र अध्यक्ष का किया स्वागत

अश्वनी उपाध्याय


गाज़ियाबाद। क्षेत्रीय कार्यालय मेरठ भारतीय जनता पार्टी के नवनियुक्त क्षेत्र अध्यक्ष मोहित बेनीवाल का गाज़ियाबाद महानगर के पदाधिकारी एवं कार्यकर्ताओं के द्वारा स्वागत किया गया हैं, सभी कार्यकर्ता बंधु महानगर अध्यक्ष संजीव शर्मा के नेतृत्व में मेरठ पहुंचे तथा मोहित बेनीवाल क्षेत्र अध्यक्ष एवं प्रदेश महामंत्री अश्वनी त्यागी का भव्य स्वागत किया गया।


साथ में महानगर महामंत्री पप्पू पहलवान, सुशील गौतम, रनीता सिंह, इंदु जोहरी, तारा जोशी, चमन चौहान, गुंजन शर्मा जय कमल अग्रवाल, संजय तिवारी, संजय रावत, हरेंद्र चौधरी, योगेश भाटी, सचिन डेढ़ा, राहुल गोस्वामी, मोनू त्यागी, संदीप चौधरी, दीपक पराशर, अशोक शर्मा, अनिल शर्मा, शोभा चौधरी, पूजा शर्मा, बॉबी त्यागी, रेनू सिंह, अर्जुन तोमर, विमल शर्मा, उदयवीर चौधरी, इमरान चौधरी, श्याम शर्मा, आतिश शर्मा, दीपक राघव, ओम राजपूत, विरेंद्र कुमार कंडेरे, सुभाष प्रधान, सचिन डेढ़ा, संदीप चौधरी, अजय राजपूत, हर्ष प्रजापति राहुल शर्मा समेत आदि लोग मौजूद रहे हैं।                  


सारे प्रयासों में गाजियाबाद फेल हुआ ?

अश्वनी उपाध्याय


ग़ाज़ियाबाद। वैसे तो ग़ाज़ियाबाद नई-नई उपलब्धियां व ताबड़तोड़ हो रहे विकास को लेकर चर्चाओं में बना रहता है।और तो और सरकार भी गाजियाबाद के सौन्दर्यीकरण को लेकर नित नए प्रयास करती रहती है लेकिन लगता है कि सरकार के सारे प्रयास ग़ाज़ियाबाद में दम तोड़ते नजर आ रहे है और ग़ाज़ियाबाद के सौंदर्य करण को पलीता लगा रहे हैं। ऐसा ही एक नजारा हमारी पल्स 24 की टीम को राज नगर एक्सटेंशन चौराहे क्षेत्र में देखने को मिला। बता दें कि ग़ाज़ियाबाद के एयरफोर्स के सम्मान का प्रतीक बन चुका राजनगर एक्सटेंशन में लगा हवाईजहाज आज दुर्दशा का शिकार बना हुआ है। उक्त हवाई जहाज जहां एयरफोर्स का मान बढ़ाता है तो वहीं गाजियाबाद को भी सम्मान दिलाता है । एयरफोर्स प्रशासन व पुलिस प्रशासन की घोर लापरवाही का नतीजा है कि उक्त हवाई जहाज के ऊपर व इर्द गिर्द बच्चे खेलते रहते हैं और वहां पर गंदगी फैलाते रहते हैं लेकिन सबसे बड़ी बात यह है कि सबसे व्यस्ततम मार्ग होने के बावजूद भी बच्चों की इन हरकतों पर कोई अंकुश नहीं है। अपनी जान की परवाह न करते हुए उक्त बच्चे हवाई जहाज के ऊपर चढ़ते हैं और फिर वहां से कुंदकुंद कर खेलते हैं जिससे कई बार बच्चे चोटिल भी हो चुके हैं। गौर करने वाली बात तो यह है यहां पर अधिकांश पुलिस प्रशासन मुस्तैद रहता है बाबजूद इसके इन हरकतों पर कोई रोक टोक नहीं है। लगता है जैसे कि पुलिस प्रशासन केवल चालान तक ही सीमित रह गया हो। वहीं एयरफोर्स प्रशासन भी इस ओर से पूरी तरह आंखें मूंदे हुए हैं । कुल मिलाकर पुलिस प्रशासन व एयर फोर्स प्रशासन की लापरवाही की वजह से इंडियन एयरफोर्स का प्रतीक ग़ाज़ियाबाद का सम्मान उक्त हवाई जहाज अब अपनी हालात पर आंसू बहाने को विवश हो चुका है।             


गाजियाबादः सीए विनय के हत्यारे गिरफ्तार

इंदिरापुरम – चार्टर्ड अकाउंटेंट विनय निर्मल के हत्यारे गिरफ्तार, रोड रेज़ में हुई थी हत्या।


अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। इंदिरापुरम पुलिस ने रोड रेज़ के मामले में चार्टर्ड अकाउंटेंट विनय कुमार निर्मल के हत्यारों को गिरफ्तार कर लिया है। वैभव खंड के रहने वाले 55 वर्षीय विनय कुमार को 28 अगस्त की रात में तीन बदमाश टक्कर मार कर भाग गए थे।
गिरफ्तार अभियुक्तों के नाम शिवम धामा, आनंद कुमार शर्मा और निखिल त्यागी हैं।  ये तीनों ट्रांस हिंडन क्षेत्र के ही रहने वाले हैं।  गिरफ्तार अभियुक्तों ने बताया कि घटना वाली रात (28 अगस्त) को वे कृष्णा स्विफ्ट डिजायर कार से आपरा मार्केट की तरफ जा रहे थे।  गाड़ी आनंद कुमार शर्मा चला रहा था।  तिकोना पार्क के पास ग्रीन सिटी के गेट नंबर 2 के सामने उन्होंने सड़क पर जा रहे विनय कुमार को टक्कर मार दी।  टक्कर इतनी भयंकर थी कि विनय कुमार 30-35 मीटर तक घिसटते चले गए और उनकी मौत हो गई।  टक्कर की आवाज सुनकर तीनों अभियुक्त घबरा गए और गाड़ी को मौके पर ही छोड़ कर भाग खड़े हुए।
अभियुक्तों को गिरफ्तार करने वाले पुलिस टीम में उप निरीक्षक शिशुपाल सोलंकी, हैड कांस्टेबल मनोज राणा, राजकुमार, सुखबीर और कांस्टेबल अशोक कुमार शामिल हैं।                                                                                       


दूधेश्वर नाथ मठ में गणपति का विसर्जन

दुद्धेशवरनाथ मठ में धूम-धाम से हुआ गणपति विसर्जन।


अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। वैश्विक महामारी कोरोना को देखते हुये इस वर्ष श्री दूधेश्वर गणपति लडडू महोत्सव अनुष्ठानात्मक रूप में ही आयोजित किया गया था। महोत्सव में 22 अगस्त गणेश चतुर्थी को गणपति बप्पा को विराजमान किया गया था। 11 दिन तक महन्त नारायण गिरि महाराज के सानिध्य में मन्दिर विकास समिति के अध्यक्ष धर्मपाल गर्ग  की अध्यक्षता में पूजन अर्चन हवन सम्पन्न हुआ।
आज अनन्त चतुर्दशी के दिन सुबह 7 बजे से 9 बजे तक चले विशेष हवन अनुष्ठान के बाद गणेश भगवान को पूर्ण शान्ति रूप से सभी गाइडलाइंस का पालन करते हुये गाड़ियों के काफिले के साथ मुरादनगर छोटा हरिद्वार ले जाकर भगवान गणेश को विदाई दी।
11 दिनों तक चला यह कार्यक्रम मन्दिर विकास समिति के अध्यक्ष धर्मपाल गर्ग और उपाध्यक्ष अनुज गर्ग के पूर्ण सहयोग से सम्पन्न हुआ।  जिसमें व्यवस्था संभालने में मंदिर विकास समिति के सदस्य विजय सिंघल व मन्दिर श्रृंगार सेवा समिति के विजय मित्तल ने पूर्ण योगदान दिया।                


कांग्रेसी नेताओं को मुरादनगर पुलिस ने रोका

पलायन कर रहे ब्राह्मण परिवार से मिलने जा रहे कांग्रेसी नेताओं को मुरादनगर में रोका पुलिस प्रशासन ने।


अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। पब्जी गेम खेलने के दौरान बच्चों के बीच हुए विवाद को लेकर बाद में शामली कोतवाली क्षेत्र के गांव हसनपुर में बड़ों के बीच हुई फायरिंग के मामले ने तूल पकड़ लिया है। इस मामले में शनिवार को पीड़ित ब्राह्मण समाज के लोगों ने अपने घरों पर पलायन के पोस्टर चस्पा कर दिए। इससे पुलिस प्रशासन में हड़कंप मच गया।
आज इन्हीं ब्राह्मण समाज के लोगों से मिलने के लिए कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता आचार्य प्रमोद कृष्णम हसनपुर जा रहे थे। रास्ते में इनको मुरादनगर गंगनहर के पास पुलिस प्रशासन ने रोक लिया। आचार्य प्रमोद कृष्णम ने बताया कि वह शामली में जा रहे थे जहां पर ब्राह्मण परिवारों पर अत्याचार हो रहा है। यह सरकार की तानाशाही है।
औरंगजेब के राज में भी नहीं हुआ इतना अत्याचार।
आचार्य प्रमोद कृष्णन का कहना है कि एक हिंदू संत और कल के पीठाधीश्वों को एक संत जो कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ हैं, उनकी पुलिस रोक रही है. हमें जाने नहीं दे रही है। ‘कंस, औरंगजेब के राज में भी इतना अत्याचार नहीं हुआ’आचार्य प्रमोद कृष्णम ने पूछा कि क्या इस देश में इमरजेंसी लगी हुई है या फिर उत्तर प्रदेश में आपातकाल लागू हो गया है। अगर उनको पुलिस नहीं जाने देती है तो वह सड़क पर ही बैठ जाएंगे और अपनी जान दे देंगे। प्रशासन ने उनको क्यों रोका है। इसका जवाब नहीं दिया जा रहा है। मैं नहर किनारे हूं इससे अच्छा मेरी भी गाड़ी पलट दो।
‘योगीराज में ब्राह्मणों पर हो रहा है अत्याचार’
कांग्रेस पार्टी के पूर्व मंत्री सतीश शर्मा ने बताया कि प्रियंका गांधी वाड्रा और उत्तर प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने एक डेपुटेशन बनाया। जिसमें आचार्य प्रमोद कृष्णम, प्रदीप माथुर, सतीश शर्मा, बदरुद्दीन, योगेश दिक्षित, जेके गॉड शामिल हैं। सभी लोग वहां जाकर असलियत जानना चाह रहे थे लेकिन पुलिस ने हमें रोक लिया।                   


कंपोजीशन डीलरों के लिए बढ़ाई रिटर्न डेट

जीएसटी – कंपोज़ीशन डीलरों के लिए बढ़ाई गई रिटर्न भरने की तारीख, जानिए कब तक मिली है छूट।


अकांशु उपाध्याय


नई दिल्ली। केंद्र सरकार ने कंपोज़ीशन योजना के अंतर्गत आने वाले डीलरों के लिए जीएसटी रिटर्न भरने की तारीख को बढ़ा दिया है।  वित्त वर्ष 2019-20 के लिए रिटर्न बढ़ाने की समय सीमा को दो माह बढ़ाकर 21 अक्तूबर कर दिया गया है। इससे पहले रिटर्न जमा करने की तारीख 31 अगस्त थी।  
केंद्रीय अप्रत्यक्ष कर और सीमा शुल्क बोर्ड सीबीआइसी ने एक ट्वीट कर जानकारी दी कि “वित्त वर्ष 2019-20 की जीएसटीआर 4 भरने की अंतिम तिथि को बढ़ाकर 31 अक्तूबर कर दिया गया है”।
आपको बता दें कि माल एवं सेवा कर (जीएसटी) के डेढ़ करोड़ रुपए से अधिक का सालाना कारोबार करने वाले करदाता कंपोज़ीशन योजना का लाभ ले सकते हैं। इस योजना के अंतर्गत विनिर्माताओं और व्यापारियों को एक प्रतिशत की दर से जीएसटी का भुगतान करना होगा। एल्कोहल नहीं परोसने वाले रेस्टोरेंट्स को 5 प्रतिशत की दर से जीएसटी देना होता है।                 


हादसे में 3 मजदूरों की मौत, 11 घायल

सिवनी। मध्य प्रदेश के सिवनी जिले में मंगलवार की सुबह टोल प्लाजा के करीब मजदूरों से भरी जीप खड़े कंटेनर से पीछे से जा टकराई। इस हादसे में तीन मजदूरों की मौत हो गई, वहीं 11 लोग घायल हुए हैं। यह मजदूर बिहार और झारखंड के निवासी बताए जा रहे हैं।



बंडोल थाने से मिली जानकारी के अनुसार बिहार व झारखंड के मजदूर काम करने महाराष्ट्र जा रहे थे, मजदूरों की जीप अलोनिया टोल प्लाजा पर खड़े कंटेनर में पीछे से जा घुसा। इस हादसे में जीप बुरी तरह क्षतिग्रस्त हुई और मौके पर ही तीन लोगों की मौत हो गई, 11 लोग घायल हो गए। घायलों को पुलिस जवानों ने टोल प्लाजा कर्मचारियों की मदद से जिला अस्पताल में भर्ती कराया।


भारतीय सैनिक-हथियार लद्दाख में किए तैनात

नई दिल्ली/ बीजिंग। चीन की हरकतों को देखते हुए भारतीय सेना ने पूर्वी लद्दाख में पैंगोंग झील के आसपास सभी 'रणनीतिक बिंदुओं' पर सैनिकों और हथियारों की तैनाती बढ़ा दी है। आधिकारिक सूत्रों ने सोमवार को बताया कि घुसपैठ की चीनी कोशिश को विफल करने के बाद पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) से लगे सभी क्षेत्रों में समग्र निगरानी तंत्र को और मजबूत किया गया है। शीर्ष सैन्य एवं रक्षा प्राधिकारियों ने पूर्वी लद्दाख में पूरी स्थिति की समीक्षा की है। सेना प्रमुख जनरल एमएम नरवाने ने ताजा टकराव को लेकर शीर्ष सैन्य अधिकारियों के साथ एक बैठक भी की।


सूत्रों ने बताया कि वायुसेना से भी पूर्वी लद्दाख में एलएसी से लगे क्षेत्रों में निगरानी बढ़ाने को कहा गया है।


ऐसी रिपोर्ट है कि चीन ने उसके रणनीतिक रूप से अहम होतान एयरबेस पर लंबी दूरी के लड़ाकू विमान जे-20 और कुछ अन्य एसेट तैनात किए हैं। पिछले तीन महीने में, भारतीय वायुसेना ने अपने सभी प्रमुख लड़ाकू विमानों जैसे सुखोई-30 एमकेआइ, जगुआर और मिराज-2000 पूर्वी लद्दाख के प्रमुख सीमावर्ती एयरबेस और एलएसी के पास अन्य स्थानों पर तैनात किए हैं।


भारतीय वायुसेना ने चीन को परोक्ष तौर पर यह स्पष्ट संदेश देने के लिए पूर्वी लद्दाख क्षेत्र में रात के समय हवाई गश्त की कि वह पहाड़ी क्षेत्र में किसी भी स्थिति से निपटने के लिए तैयार है। वायुसेना ने पूर्वी लद्दाख में अपाचे लड़ाकू हेलीकॉप्टरों के साथ-साथ विभिन्न अग्रिम मोर्चो पर सैनिकों को पहुंचाने के लिए चिनूक हैवी-लिफ्ट हेलीकॉप्टरों को भी तैनात किया है।


भारत-चीन के बीच 15 जून को गलवन घाटी में हुई हिंसक झड़प के बाद यह पहली बड़ी घटना है जिसमें भारतीय सेना के 20 जवान शहीद हो गए थे। इस झड़प में चीन के सैनिक भी हताहत हुए थे, लेकिन चीन ने सार्वजनिक तौर पर नहीं बताया कि उसके कितने सैनिक हताहत हुए थे। हालांकि अमेरिकी खुफिया रिपोर्ट के अनुसार, इसमें चीन के 35 सैनिक मारे गए थे। भारत और चीन ने पिछले ढाई महीनों में कई दौर की सैन्य और कूटनीतिक बातचीत की है, लेकिन पूर्वी लद्दाख में सीमा गतिरोध के समाधान के लिए कोई अहम प्रगति नहीं हुई।               


सुरेश रैना ने पंजाब सीएम से लगाई गुहार

पूर्व भारतीय क्रिकेटर सुरेश रैना ने पंजाब के मुख्यमंत्री से लगाई गुहार , रिश्तेदारों के कातिलों को मिले सज़ा, कहा – मेरे परिवार के साथ जो कुछ हुआ वह भयावह, जवाब जानने का हकदार हूं। 


राणा ओबरॉय


नई दिल्ली/चंडीगढ़। पूर्व भारतीय क्रिकेटर सुरेश रैना ने पंजाब में अपनी बुआ के परिवार हमले की जांच की मांग करते हुए मंगलवार को खुलासा किया कि उनके फूफा के बाद अब उनकी बुआ के लड़के की भी मौत हो गयी। यह 33 वर्षीय खिलाड़ी व्यक्तिगत कारणों से इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) से बाहर होने के बाद पिछले हफ्ते स्वदेश लौट आया था। आईपीएल 19 सितंबर से संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) में खेला जाएगा।
रैना ने ट्विटर पर दिये गये अपने बयान में हालांकि यह नहीं बताया कि उनका आईपीएल से वापस लौटने का कारण यह हमला था। पठानकोट में उनकी बुआ के परिवार पर हमला लूट का मामला माना जा रहा है। उन्होंने कहा, ‘‘पंजाब में मेरे परिवार के साथ जो हुआ वह भयावह है। मेरे फूफा की हत्या कर दी गयी, मेरी बुआ और दोनों भाईयों (बुआ के लड़कों) को गंभीर रूप से घायल कर दिया गया। दुर्भाग्य से मेरा भाई भी कई दिन तक जिंदगी और मौत से जूझने के बाद चल बसा। मेरी बुआ की हालत अब भी गंभीर बनी हुई है और उन्हें जीवन रक्षक प्रणाली पर रखा गया है। ’’
रैना के परिजनों पर पंजाब के पठानकोट जिले के थरियाल गांव में 19 और 20 सितंबर की रात को हमला किया गया था। रैना ने पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टेन अमरिंदर सिंह को टैग करते हुए लिखा, ‘‘आज तक हमें पता नहीं कि उस रात क्या हुआ था और किसने ऐसा किया था। मैं पंजाब पुलिस से इस मामले पर गौर करने का आग्रह करता हूं। हम कम से कम यह जानने के हकदार तो हैं कि उनके साथ यह जघन्य कृत्य किसने किया। इन अपराधियों को और अपराध करने के लिये बख्शा नहीं जाना चाहिए।’ रैना ने पूर्व भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के साथ ही 15 अगस्त को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास ले लिया था।


डोभाल ने की एलएसी के हालात की समीक्षा

अजित डोभाल कर रहे एलएसी के हालात की समीक्षा
 नई दिल्ली/श्रीनगर। राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल एलएसी  के हालात की समीक्षा कर रहे हैं। चीन के साथ कमांडर स्तर की बातचीत पर भी डोभाल की नजर है,हालात की समीक्षा के लिए अजित डोभाल ने कल महत्वपूर्ण बैठक की,बैठक में गृह सचिव और खुफिया एजेंसियों के प्रमुख भी मौजूद रहे।खुफिया एजेंसियों ने चीन के साथ तनाव पर डोभाल को जानकारी दी। चीन के साथ कमांडर स्तर की बातचीत पर डोभाल की नजर है।
चुशूल में सुबह 10 बजे से कमांडर स्तर की बैठक चल रही है।पैंगोंग में चीन के मुकाबले भारतीय सेना बेहतर स्थिति में है। चीन ने भारत पर एलएसी  के उल्लंघन का आरोप लगाया है,28-29 अगस्त की रात पैंगोंग में चीन के साथ भारतीय सैनिकों की झड़प हुई थी।पैंगोंग में भारत-चीन की झड़प पर चीन के दूतावास का बयान सामने आया है,चीन ने भारत पर एलएसी के उल्लंघन का आरोप लगाया है।
29-30 अगस्त की रात लद्दाख के पैंगोंग झील के दक्षिण में चीन के सैनिकों ने कुछ इलाकों पर कब्जा करने की कोशिश की, चीन के करीब 500 सैनिक इस अवैध कब्जे के लिए आए थे।चीन के सैनिकों के पास रस्सी और चढ़ाई के दूसरे औजार थे। रात के अंधेरे में ब्लैक टॉप और थाकुंग हाइट्स के बीच टेबल टॉप इलाके पर चीनी सैनिकों ने चढ़ाई शुरू की लेकिन भारतीय सेना पहले से मुस्तैद थी।भारतीय जवानों ने चीन की सेना को पहले रोका और फिर चीन को पीछे हटने के लिए मजबूर कर दिया।चीन पैंगोंग के थाकुंग इलाके में टशन से आया था,और भारत के बलवानों का फिर से पराक्रम देखकर टेंशन में लौट गया लेकिन इस घटना में भारत की सेना की तरफ से एक भी गोली नहीं चली और ना ही किसी सैनिक की जान गई।
चीन धोखेबाजी के लिए कुख्यात है, एलएसी  विवाद को लेकर चीन गलवान की घटना के बाद से जो बातचीत कर रहा है वो सिर्फ चीन की चालबाजी लगती है। बातचीत की आड़ में वक्त लेकर चीन भारत की पीठ पर 1962 की तरह पीठ पर छुरा भोंकना चाहता है लेकिन इस बार चीन की सारी साजिशों पर भारतीय सेना ने पानी फेर दिया लेकिन चीन की बेशर्मी देखिये,गलवान की तरह पैंगोंग की घटना के लिए चीन भारत को ही जिम्मेदार ठहरा रहा है।चीन सेना के वेस्टर्न थियेटर कमांड ने बयान जारी कर कहा कि सोमवार को भारतीय सेना ने फिर एलएसी पार की और जानबूझकर उकसाने की कार्रवाई की। अवैध तरीके से एलएसी पार करने वाली सैन्य टुकड़ी को भारत तुरंत वापस बुलाए।                    


एयरपोर्ट की तरह वर्ल्ड क्लास रेलवे स्टेशन

एयरपोर्ट की तरह वर्ल्ड क्लास बनेगा ये रेलवे स्टेशन


नई दिल्ली। अगले कुछ सालों में आप नई दिल्ली रेलवे स्टेशन को पहचान नहीं पाएंगे।भारतीय रेलवे ने इसकी सूरत बदलने की तैयारी कर ली है,रेल लैंड डेवलपमेंट अथॉरिटी ने रेलवे स्टेशन का रीडेवलपमेंट करने के लिए निजी कंपनियों,एजेंसियों से बोलियां मंगाई हैं। रेलवे ने कहा कि नई दिल्ली स्टेशन को रीडेवलप करने में करीब 4,925 करोड़ रुपये का खर्च आएगा।रेलवे स्टेशन को बिल्कुल एयरपोर्ट की तर्ज पर तैयार करने की योजना है।
रीडेवलपमेंट के बाद इस स्टेशन में क्या बदल जाएगा, रेलवे का पूरा प्लान क्या है, इस पर एक नजर डालते हैं*
1. नया रेलवे स्टेशन वर्ल्ड क्लास रीटेल, कमर्शियल और हॉस्पिटैलिटी बिजनेस का एक बड़ा हब होगा।
2. नए रेलवे स्टेशन में सभी जरूरी और आधुनिक सुविधाएं होंगी।
3. इस प्रोजेक्ट में कमर्शियल कंपोनेंट का बड़ा विस्तार होगा,इसमें 5 स्टार होटल्स, बजट होटल और सर्विस अपार्टमेंट बनेंगे, जो करीब 30 एकड़ जमीन पर बनेगा
4. प्लेटफॉर्म को इस तरह से डिजाइन किया जाएगा कि यात्री को वहां पहुंचने में आसानी हो,उसे भीड़भाड़ का कम से कम सामना करना पड़े।
5. यात्रियों के लिए लाउंज, फूड कोर्ट और रेस्ट रूम्स का भी इंतजाम होगा।
6. ये सभी एक एलिवेटेड रोड नेटवर्क के जरिए जुड़े होंगे, जिसमें कई एंट्री और एग्जिट द्वार होंगे।
7. इसमें एक मल्टीलेवल पार्किंग की व्यवस्था होगी, स्टेशन पर नेचुरल लाइट, वेंटीलेशन का पूरा ध्यान रखा जाएगा।
8. स्टेशन में आने-जाने के लिए अलग-अलग कॉरिडोर यानि रास्ते बनाए जाएंगे।
आपको बता दें कि नई दिल्ली रेलवे स्टेशन देश का दूसरा सबसे व्यस्त रेलवे स्टेशन है,यहां से रोजाना करीब 4.5 लाख यात्री आते जाते हैं,यहां रोजाना 400 से ज्यादा ट्रेनों की आवाजाही होती है।                           


1 परिवार के 3 लोगों को ईंट से कुचला

हरदोई। उत्तर प्रदेश के हरदोई जिले में टड़ियावां थाना क्षेत्र के स्थित आश्रम में मंगलवार को एक ही परिवार के तीन लोगों की ईंट से कुचल कर हत्या कर दी गई। पुलिस मामले की जांच कर रही है।


पुलिस अधीक्षक (एसपी) अमित कुमार ने बताया कि हरदोई जिला स्थित गांव के बाहर एक परिवार रहता था। जिसमें हीरादास, उनकी पत्नी और पुत्र रहता था, जिनके सिर पर वार करके हत्या कर दी गई है। पुलिस मामले की जांच कर रही है। मामले में गांव के व्यक्तियों से पूछताछ जारी है। ग्राम-प्रधान से लेकर चौकीदार सभी से पूछताछ हो रही है। संपत्ति विवाद से लेकर सारे एंगल की गहनता से जांच हो रही है। जल्द खुलासा होगा।


स्थानीय लोगों के अनुसार हरदोई के टड़ियावां थाना क्षेत्र अंतर्गत ग्राम कुआंमऊ में एक आश्रम में रहने वाले बाबा, उनके पुत्र और पत्नी की ईंट पत्थरों से कुचल कर हत्या कर दी गई। तीनों के शव आश्रम में बने कमरे में पड़े मिले। कुआंमऊ निवासी हीरा दास अपने पुत्र पत्नी के साथ गांव से लगभग 500 मीटर दूर बने आश्रम में रहते थे। पिछले 20 वर्ष से तीनों यह लोग यहीं पर रह रहे थे।             


दिल्लीः पेट्रोल हुआ महंगा, रेट-82.08

नई दिल्ली। आज मंगलवार यानी 1 सितंबर 2020 को पेट्रोल के रेट फिर बढ़े। आज दिल्ली में पेट्रोल का रेट 5 पैसे प्रति लीटर बढ़कर 82.08 रुपये प्रति लीटर हो गया, वहीं, डीजल का रेट 73.56 रुपये प्रति लीटर पर स्थिर रहा। सरकारी तेल कंपनियां कीमतों की समीक्षा करने के बाद प्रतिदिन पेट्रोल और डीजल के रेट तय करती हैं। इंडियन ऑयल, भारत पेट्रोलियम और हिंदुस्तान पेट्रोलियम दैनिक आधार पर 6 बजे से पेट्रोल रेट और डीजल रेट में संशोधन करती हैं, और जारी करती हैं। दिल्ली में अब 1 लीटर पेट्रोल की कीमत 82.08 रुपये है, वहीं 1 लीटर डीजल 73.56 रुपये प्रति लीटर पर है। कोलकाता में अब 1 लीटर पेट्रोल की कीमत 83.57 रुपये है, वहीं 1 लीटर डीजल 77.06 रुपये प्रति लीटर पर है। मुम्बई में अब 1 लीटर पेट्रोल की कीमत 88.73 रुपये है, वहीं 1 लीटर डीजल 80.11 रुपये प्रति लीटर पर है। चेन्नई में अब 1 लीटर पेट्रोल की कीमत 85.04 रुपये है, वहीं 1 लीटर डीजल 78.86 रुपये प्रति लीटर पर है।             


सोना-चांदी के दाम नें फिर पकडी रफ्तार

मुंबई। आज सोना 52 हजारी हो चुका है, तो चांदी ने भी तगड़ी बढ़त हासिल की है। सोमवार शाम को चांदी 67,318 रुपये प्रति किलो के स्तर पर बंद हुई थी, जो आज 68,550 रुपये के स्तर पर खुली। यानी चांदी में बाजार खुलने के साथ ही 1232 रुपये की तगड़ी बढ़त देखने को मिली। शुरुआती कारोबार में चांदी ने 68,649 का उच्चतम स्तर भी छू लिया और 68501 रुपये का न्यूनतम स्तर भी देखा। हालांकि, शुरुआती कारोबार में चांदी की चाल सुस्त ही लग रही है, क्योंकि उसमें कोई तगड़ी बढ़त नहीं दिख रही है। मजबूत हाजिर मांग के कारण कारोबारियों ने अपने सौदों के आकार को बढ़ाया जिससे वायदा कारोबार में सोमवार को चांदी की कीमत 611 रुपये की तेजी के साथ 69,448 प्रति किग्रा हो गयी। मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज में चांदी के सितंबर महीने में डिलीवरी वाले अनुबंध की कीमत 611 रुपये अथवा 0.89 प्रतिशत की तेजी के साथ 69,448 रुपये प्रति किग्रा हो गयी जिसमें 14,467 लॉट के लिए कारोबार हुआ। बाजार विश्लेषकों ने कहा कि चांदी वाायदा कीमतों में तेजी आने का मुख्य कारण घरेलू बाजार में तेजी के रुख की वजह से कारोबारियों द्वारा ताजा सौदों की लिवाली करना था। वैश्विक स्तर पर, न्यूयॉर्क में चांदी की कीमत 0.88 प्रतिशत की तेजी के साथ 28.04 डॉलर प्रति औंस हो गई।             


पुनर्भुगतान पर 2 साल रह सकती है रोक

नई दिल्ली। केंद्र और रिजर्व बैक ऑफ इंडिया ने मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट को सूचित किया कि ऋणों के पुनर्भुतान पर रोक (मोरैटोरियम) दो साल तक के लिए बढ़ाई जा सकती है। भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) और केंद्र सरकार की ओर से पैरवी करते हुए सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने न्यायाधीश अशोक भूषण की अगुवाई वाली पीठ के सामने दलील दी कि केंद्र संकटग्रस्त क्षेत्रों पर पड़े प्रभाव के अनुसार यह तय करने के लिए इन क्षेत्रों की पहचान करने की प्रक्रिया में है कि किस तरह की राहत प्रदान की जा सकती है।


मेहता ने स्पष्ट किया कि परिपत्र के अनुसार रोक बढ़ाई जा सकती है। उन्होंने शीर्ष अदालत को यह भी बताया कि केंद्र ने आपदा प्रबंधन अधिनियम के तहत शक्तियों पर अपना जवाब दायर किया है, और अदालत से केंद्र, आरबीआई, बैंकर संघों को एक साथ बैठक करने की अनुमति देने का आग्रह किया है। पीठ ने जवाब दिया कि वह पिछले तीन सुनवाई के दौरान इस बैठक के बारे में सुनती आ रही है। मेहता ने कहा कि वे उधारकर्ताओं के वर्ग की पहचान करेंगे। पीठ ने कहा कि वह इस मुद्दे पर कुछ ठोस चाहती है। मेहता ने दोहराया कि स्थगन की अवधि वैसे भी दो साल तक बढ़ाई जा सकती है।


पीठ ने जोर देकर कहा कि उसे योग्यता के आधार पर कई अन्य मुद्दों पर भी निर्णय लेना है, और जानना चाहा कि क्या अगले दो दिनों में इस पर कोई फै सला हो जाएगा?


मेहता ने कहा कि अदालत हलफनामे को देख सकती है और इसके आधार पर दो दिनों में मामले को उठा सकती है। पीठ ने फिर जानना चाहा कि क्या दो दिन में फैसला लिया जा सकता है? मेहता ने कहा कि संभव नहीं है।


जिस पर, पीठ ने कहा कि वह बुधवार को मौरैटोरियम अवधि के दौरान ईएमआई पर ब्याज की माफी, या ब्याज पर छूट की मांग करने वाली याचिकाओं पर सुनवाई करेगी।             


सुरक्षा का बंदोबस्त करें सरकारः मायावती

लखनऊ। बहुजन समाज पार्टी (बसपा) प्रमुख मायावती ने मंगलवार को कहा कि उत्तर प्रदेश में पिछले दो दिनो में चार दलितों की हत्यायें चिंता का विषय है और सरकार को समाज के कमजोर वर्ग के लोगों की सुरक्षा का पुख्ता इंतजाम करने की जरूरत है। मायावती ने ट्वीट किया “यूपी की भाजपा सरकार में वैसे तो सर्वसमाज के लोग हर प्रकार की जुल्म-ज्यादती से पीड़ित हैं किन्तु दलितों के उपर अन्याय-अत्याचार की लगातार हो रही घटनायें अति-चिन्ता की बात है। रायबरेली में पुलिस बर्बता में दलित युवक की मौत व आगरा में तीन दलित की हत्या आदि अति-दुःखद व अति-निन्दनीय।”


उन्होने कहा “यूपी की इन ताजा घटनाओं के सम्बंध में सरकार दोषियों के खिलाफ सख्त कानूनी धाराओं में त्वरित कार्रवाई करने के साथ ही खासकर कमजोर वर्गों के लोगों की सुरक्षा सुनिश्चित करे, बीएसपी की यह माँग है। यूपी में आएदिन ऐसी दर्दनाक घटनायें यहाँ जंगलराज होने को ही साबित करती हैं।”



  • गौरतलब है कि सोमवार को आगरा के एत्माद्दौला क्षेत्र में दलित दंपत्ति और उनके पुत्र के अधजले शव मकान के भीतर मिले थे वहीं रायबरेली के लालगंज इलाके में पुलिस हिरासत में एक दलित युवक की मौत हो गयी थी हालांकि जिला एवं पुलिस प्रशासन ने घटना पर दुख व्यक्त करते हुये एक दिन के वेतन के तौर पर मृतक आश्रित को पांच लाख रूपये देने की घोषणा की है।             


उत्तराखंड में 88 दरोगा बने इन्सपेक्टर

देहरादून। राज्य पुलिस के 88 दारोगाओं का इंस्पेक्टर बनने का ख्वाब सोमवार को पूरा हो गया। पुलिस मुख्यालय ने दारोगा से इंस्पेक्टर बने पुलिसकर्मियों की सूची वेबसाइट पर अपलोड कर दी है। आपको बता दें कि दारोगाओं की पदोन्नति में पेच वर्ष 2016 में फंसा तो प्रक्रिया उलझती ही चली गई। नतीजा यह हुआ साल 2017, 18 और 19 में एक भी दारोगा की पदोन्नति नही हुई।
उत्तराखंड पुलिस में पदोन्नति की पारदर्शी व्यवस्था के लिए करीब दो साल पहले नियमावली लाई गई थी, लेकिन नियमावली में कुछ पेच ऐसे फंसे कि मंजूरी के बावजूद भी इस पर अंतिम निर्णय नही लिया जा सका था। हालांकि, पिछले महीने शासन ने सेवा नियमावली को मंजूरी दे दी। जिसके बाद पुलिस मुख्यालय के कार्मिक अनुभाग ने जिलों से पदोन्नति के दायरे में आने वाले दारोगाओं की सूची भी मंगा ली। अगस्त के पहले सप्ताह में इसके आधार पर वरिष्ठता सूची जारी कर दी गई। इसके बाद दारोगाओं को लगने लगा कि उनका इंस्पेक्टर बनने का ख्वाब अब जल्द ही पूरा हो जाएगा, लेकिन उनका यह इंतजार अब जाकर पूरा हुआ। इस सूची को उत्तराखंड पुलिस की वेबसाइट पर देखा जा सकता है।
                दारोगाओं की पदोन्नति में पेच वर्ष 2016 में फंसा तो प्रक्रिया उलझती ही चली गई। नतीजा यह हुआ 2017, 18 और 19 में एक भी दारोगा की पदोन्नति नही हुई। मामला कोर्ट पहुंचा तो दो साल पहले संशोधित सेवा नियमावली पर काम शुरू हुआ।               


रसोई 'गैस-सिलेंडर' की कीमत ₹594 हुई

नई दिल्ली। गैर सब्सिडी वाले रसोई गैस सिलेंडर 14.2 किग्रा की कीमत में इजाफा नहीं हुआ है और कुछ शहरों में इसके दाम कम हुए हैं। ऑयल मार्केटिंग कंपनियों (HPCL, BPCL, IOC) ने LPG रसोई गैस की कीमतों में कोई बदलाव नहीं किया है। दिल्ली में 14.2 किलोग्राम वाले गैर-सब्सिडाइज्‍ड एलपीजी सिलेंडर के दाम 594 रुपये पर स्थिर हैं। अन्य शहरों में भी घरेलू रसोई गैस सिलेंडर के दाम में कोई बदलाव नहीं हुआ है। IOC की वेबसाइट पर दिए गए प्राइस के मुताबिक, दिल्ली में 19 किलोग्राम वाला रसोई गैस सिलेंडर 2 रुपये तक सस्ता हो गया है।


क्या है कीमत


दिल्‍ली में 14.2 किलोग्राम वाले बिना सब्सिडी वाले रसोई गैस सिलेंडर की कीमत 594 रुपये पर स्थिर है। मुंबई की बात करें तो यहां बिना सब्सिडी वाले रसोई गैस सिलेंडर की कीमत 594 रुपये है।


1 शहर में मिला अंग्रेजों के जमाने का नाला

लखनऊ। वाराणसी के ह्रदय स्थल दशाश्वमेध पर एक बड़ा नाला मिला है। सोमवार दोपहर हाइड्रोलिक गेट बनाने के लिए हुई खुदाई के दौरान यह नाला सामने आया।पूरी तरह सूखे नाले के बारे में जल निगम के अधिकारियों को भी कुछ नहीं पता है। नाला कितना लंबा है? कहां से कहां तक जाता है? कब इसका निर्माण हुआ? यह सब किसी अधिकारी को फिलहाल नहीं पता है। यानी अधिकारियों को न तो इस नाले के भूगोल के बारे में जानकारी है और न ही इसका इतिहास पता है। आसपास के लोग इसे शाही नाला का ही हिस्सा मान रहे हैं। इसे भी शाही नाले की तरह अंग्रेजों के जमाने का नाला माना जा रहा है।


देर रात राज्यमंत्री डॉ. नीलकंठ तिवारी भी इसे देखने पहुंचे। उन्होंने जल निगम के अधिकारियों से इस नाले के बारे में जानकारी ली।


जल निगम के अधिकारियों ने इस नाले के शाही नाले का हिस्सा होने को लेकर स्पष्ट न होने की बात कही। राज्यमंत्री ने अधिकारियों से मंगलवार को इस नाले की जानकारी लेने को कहा है।


क्षेत्रीय लोग इसे शाही नाला का हिस्सा मान रहे हैं। इस नाले का आकार बड़ा है। उसमें नीचे उतरने के लिए लोहे की कड़ियां भी लगी हुई हैं। खोदाई के दौरान जब इस नाले का चौकोर ढक्कन खोला गया तो लोगों के आश्चर्य का ठिकाना नहीं रहा। आसपास के काफी लोग इस नाले को देखने पहुंचे।           


नव नियुक्त महिला रेलकर्मी की संदिग्ध मौत

वाराणसी। सिगरा थाना क्षेत्र के तेलियाबाग स्थित सीएनआई क्रिश्चियन कॉलोनी में सोमवार को महिला रेलकर्मी की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई। बाथरूम के पास महिला मृत मिली। मकान मालिक ने औंधे मुंह गिरा देखा तो पुलिस को सूचना दी। पुलिस ने पूर्वोत्तर रेलवे वाराणसी मंडल के अधिकारियों को जानकारी दी। शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया। फोरेंसिंक टीम ने मौके से साक्ष्य जुटाये।


झारखंड के धनबाद की रोमा कुमारी (32) वाराणसी मंडल में कार्मिक विभाग में चतुर्थ श्रेणी की कर्मचारी थी। 30 जुलाई को ही उसकी नौकरी लगी थी। नौकरी लगने के बाद यहां रहने के लिए रोमा ने कुछ दिनों पहले कॉलोनी में किराए पर कमरा लिया था। दोपहर में मकान मालिक ने देखा कि वह बाथरूम के पास गिरी पड़ी है। उठाने की कोशिश की तो वह मृत मिली। मौके पर पहुंची पुलिस ने जांच-पड़ताल की। कमरे से मिले कागजात के आधार पर घर जानकारी दी गई।


पुलिस को आशंका है कि बाथरूम जाते समय फिसलकर गिर गई होगी और चोट लगने से मौत हो गई होगी। उसे अस्थमा की शिकायत भी बताई जा रही है। एक-दो दिन से उसकी तबीयत खराब थी। पुलिस ने शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। बताया जा रहा है कि रोमा की मां ने दोपहर में फोन भी किया था, लेकिन फोन रीसिव नहीं हुआ। रोमा के पति भी हाजीपुर रेलवे के सोनपुर में तकनीशियन हैं।                             


चुनाव आयोग ने केरल कांग्रेस को दी मान्यता

तिरुअनंतपुरम। निर्वाचन आयोग ने केरल कांग्रेस-(एम) गुट को अलग राजनीतिक दल के रूप में मान्यता दे दी है। इस गुट के नेता दिवंगत के. एम. मनि के बेटे जोस के. मनि हैं। जोस के. मनि के दावों पर चुनाव आयोग ने फैसला करते हुए उनके गुट को चुनाव चिन्ह भी आवंटित कर दिया।



जोस के. मनि ने इस पर प्रसन्नता जाहिर करते हुए इसे सत्य की जीत बताया है। जोस के. मनि ने कहा, ये के. एम. मनि की जीत है। हम पाला उपचुनाव इसलिए हार गए क्योंकि हमें चुनाव चिन्ह नहीं मिला था। हम जोसेफ के नेतृत्व वाले केरल कांग्रेस के विधायकों से इस्तीफा मांगेंगे।


उधर जोसेफ गुट ने कहा है कि वो चुनाव आयोग के इस फैसले के खिलाफ अपील करेंगे। बता दें कि केरल कांग्रेस के जोसेफ गुट के पास तीन विधायक हैं जबकि जोस मनि गुट के पास दो।               


यूपी में बिजली महंगी करने का प्रस्ताव

यूपी में बिजली महंगी करने का प्रस्ताव
मिडिल क्लास उपभोक्ताओं पर बढ़ेगा बोझ
 बृजेश केसरवानी


प्रयागराज। उत्तर प्रदेश पावर कॉरपोरेशन लिमिटेड (यूपीपीसीएल) ने प्रस्तावित नए स्लैब पर बिजली की नई दरों का प्रस्ताव नियामक आयोग में दाखिल कर दिया है। प्रस्तावित दरों से कुछ उपभोक्ताओं को लाभ हो रहा है तो कुछ को नुकसान भी होगा। गरीब उपभोक्ताओं के दर में कोई बदलाव नहीं है। मध्यम श्रेणी के उपभोक्ता जिनकी संख्या अधिक है, उन पर अतिरिक्त भार डाला गया है। बिजली की अधिक खपत करने वाले बड़े उपभोक्ताओं को भी राहत दी गई है।
किसानों और उद्योगों को बिजली की दर में कोई बदलाव नहीं किया गया है। नए स्लैब और दर से घरेलू शहरी और ग्रामीण के वे उपभोक्ता जो 101 से 150 यूनिट तक खर्च करते हैं, प्रभावित होंगे। नियामक आयोग ने पावर कॉरपोरेशन की प्रस्तावित दर को तीन दिन के अंदर समाचार पत्रों में प्रकाशित कराने का आदेश बिजली कंपनियों को दिया है। 15 दिन में इस दर पर उपभोक्ताओं की आपत्तियां ली जाएंगी। बिजली दर पर आयोग में सुनवाई अब 24 तथा 28 सितंबर को होगी।
यूनिटवर्तमान  दर (घरेलू, शहरी)यूनिटप्रस्तावित दर0-1505.50 रुपये प्रति यूनिट0-1005.50 रुपये प्रति यूनिट151-3006.00 रुपये प्रति यूनिट101-3005.80 रुपये प्रति यूनिट301-5006.50 रुपये प्रति यूनिट300 से ऊपर6.65 रुपये प्रति यूनिट500 यूनिट से ऊपर  7.00 रुपये प्रति यूनिट


घरेलू शहरी उपभोक्ताओं के इस चार्ट से स्पष्ट है कि 100 यूनिट तक खर्च करने वाले उपभोक्ताओं पर कोई भार नहीं पड़ेगा। वहीं जो उपभोक्ता150 यूनिट तक खर्च करते हैं उन पर प्रति यूनिट 30 पैसे का बोझ बढ़ेगा। उपभोक्ताओं के इस वर्ग की संख्या अधिक है। वहीं 151 से 300 यूनिट तक खर्च करने वाले उपभोक्ताओं को 20 पैसे प्रति यूनिटन का लाभ हो रहा है। 301 से 500 यूनिट तक खर्च करने वाले उपभोक्ताओं पर भी प्रति यूनिट 15 पैसे का अतिरिक्त भार पड़ेगा। वहीं 500 यूनिट से अधिक खर्च करने वाले उपभोक्ताओं को प्रति यूनिट 35 पैसे का लाभ हो रहा है।
यूनिटवर्तमान दर (घरेलू, ग्रामीण)यूनिटप्रस्तावित दर0-1003.35 रुपये प्रति यूनिट0-1003.35 रुपये प्रति यूनिट101-1503.85 रुपये प्रति यूनिट101-3004.40 रुपये प्रति यूनिट151-3005.00 रुपेय प्रति यूनिट300 से ऊपर5.60 रुपये प्रति यूनिट300 के ऊपर  6.00 रुपये प्रति यूनिट
घरेलू ग्रामीण उपभोक्ताओं के इस चार्ट में भी 100 यूनिट से कम खर्च करने वाले गरीब उपभोक्ताओं पर कोई बोझ नहीं डाला गया है। वहीं 101 से 150 यूनिट तक खर्च करने वाले उपभोक्ताओं के बड़े वर्ग पर सीधे प्रति यूनिट 55 पैसे का अतिरिक्त बोझ पड़ेगा। हालांकि 151 से 300 यूनिट तक खर्च करने वाले उपभोक्ताओं को प्रति यूनिट 60 पैसे की बचत भी दिख रही है। 300 यूनिट से अधिक खपाने वाले उपभोक्ताओं को भी 40 पैसे प्रति यूनिट का लाभ होगा। 


*बीपीएल उपभोक्ताओं के दर में कोई बदलाव नहीं*
ग्रामीण व शहरी घरेलू बीपीएल विद्युत उपभोक्ताओं की एक किलोवाट 100 यूनिट तीन रुपये प्रति यूनिट में कोई बदलाव प्रस्तावित नहीं है। ग्रामीण घरेलू उपभोक्ताओं के फिक्सड चार्ज को 90 रुपये प्रति किलोवाट व शहरी घरेलू का 110 रुपये प्रति किलोवाट यथावत प्रस्तावित है। पावर कारपोरेशन ने घरेलू ग्रामीण अनमीटर्ड उपभोक्ताओं की दरें यथावत 500 रुपये प्रति किलोवाट ही रखी है। घरेलू ग्रामीण व शहरी की दरें निम्नवत प्रस्तावित है।                      


अवैध एनएसए, डाक्टर को तुरन्त रिहा करे

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने कहा- डॉ. कफील खान पर NSA अवैध, तत्काल रिहा करें
 बृजेश केसरवानी
प्रयागराज। गोरखपुर के बाबा राघव दास (बीआरडी) मेडिकल कॉलेज में दो वर्ष पहले बच्चों की मौत के बाद से चर्चा में आए डॉ. कफील खान अब बेहद सुर्खियों में हैं। अलीगढ़ के अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में सीएए, एनआरसी व एनपीए के विरोध में उनके ऊपर एनएसए के तहत कार्रवाई को इलाहाबाद हाई कोर्ट ने अवैध करार दिया है। इसके साथ ही करीब छह महीने से जेल में बंद डॉ. कफील खान को तत्काल रिहा भी करने का निर्देश दिया है।माना जा रहा है कि मंगलवार शाम तक डाक्टर कफील की रिहाई हो सकती है।यह आदेश मुख्य न्यायाधीश गोविंद माथुर तथा न्यायमूर्ति सौमित्र दयाल सिंह की खंडपीठ ने नुजहत परवीन की बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका पर दिया है। हाईकोर्ट ने आदेश सुनाते हुए कहा कि एनएसए के तहत डॉक्टर कफील को हिरासत में लेना और इसके बाद हिरासत की अवधि को बढ़ाना गैरकानूनी है। कफील खान को तुरंत रिहा किया जाए। अलीगढ़ के डीएम ने नफरत अलीगढ़ में फैलाने के आरोप में डॉ. कफील पर रासुका लगाया था, उसके बाद से ही जेल में बंद हैं। इस कार्रवाई के खिलाफ कफील की मां ने इलाहाबाद हाईकोर्ट में अपील की थी।इलाहाबाद हाईकोर्ट ने डॉक्टर कफील खान को एनएसए के तहत गिरफ्तार करने तथा लगातार उसकी अवधि बढ़ाने के मामले को गैरकानूनी करार दिया। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने डॉक्टर कफील खान को तुरंत रिहा करने के आदेश दिए हैं। गोरखपुर के बीआरडी मेडिकल कॉलेज के प्रवक्ता और बाल रोग विशेषज्ञ डॉक्टर कफील खान को 13 दिसंबर 2019 को अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में सीएए, एनआरसी तथा एनपीए के विरोध के दौरान भड़काऊ भाषण देने के आरोप में पुलिस ने गिरफ्तार किया था। कोर्ट ने रासुका के तहत डॉक्टर कफील को हिरासत में लेने और हिरासत की अवधि को बढ़ाए जाने को गैरकानूनी करार दिया।अलीगढ़ में 13 फरवरी 2020 को कफील पर रासुका लगाया गया था। इसके बाद हाल ही में उनकी हिरासत अवधि बढ़ा दी गई थी। इस दौरान हाल ही में उनकी हिरासत को तीन महीने के लिए बढ़ाया गया था। इसके बाद डॉक्टर कफील ने जेल से पीएम मोदी को चिट्ठी लिख रिहा करने की अपील के साथ कोविड-19 मरीजों की सेवा करने की मांग की थी, उन्होंने सरकार के लिए एक रोडमैड भी भेजा था। वह करीब छह महीने से मथुरा की जेल में बंद हैं। कफील खान को गोरखपुर के गुलहरिया थाने में दर्ज एक केस में 29 जनवरी 2020 को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया था। जेल में रहते हुए रासुका की तामील कराई गई।नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) को लेकर डॉ कफील ने एएमयू में भड़काऊ भाषण दिया था। भड़काऊ बयानबाजी करने के लिए जिलाधिकारी अलीगढ़ ने 13 फरवरी 2020 को डॉ. कफील खान को रासुका में निरुद्ध करने का आदेश दिया। यह अवधि दो बार बढ़ा दी गई। हालांकि कफील खान को गोरखपुर के गुलहरिया थाना में दर्ज एक मुकदमे में 29 जनवरी, 2020 को गिरफ्तार कर जेल भेजा जा चुका था। जेल में रहते हुए रासुका तामील कराई गई है। बता दें कि सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर इलाहाबाद हाई कोर्ट ने इस मामले की सुनवाई की है। 11 अगस्त को सुप्रीम कोर्ट ने इलाहाबाद हाईकोर्ट से डॉ. कफील खान की मां की याचिका पर 15 दिन में फैसला लेने को कहा था। इसके बाद ही मंगलवार को हाईकोर्ट ने डॉ कफील की रिहाई का आदेश दिया है।               


कोरोना की वजह से डब्लूएचओ की चैतावनी

लंदन। विश्व स्वास्थ्य संगठन के एक सर्वे में सामने आया है कि दुनिया के 90% से ज्यादा देशों का हेल्थ सिस्टम कोरोना की वजह से बुरी तरह प्रभावित हुआ है। मार्च से जून के बीच मिले डेटा से पता चलता है कि स्वास्थ्य व्यवस्थाएं चरमरा रही हैं और ऐसे ही चलता रहा तो इनका और ज्यादा दिनों तक टिका रहना काफी मुश्किल होगा। WHO ने चेताया है कि जो देश बिना तैयारी के लॉकडाउन हटा रहे हैं, वे तबाही को बुलावा दे रहे हैं।
WHO के मुताबिक कोरोना के चलते कई रूटीन अपॉइंटमेंट और स्क्रीनिंग कैंसल करनी पड़ रही हैं। वहीं महामारी की वजह से कैंसर के इलाज जैसे क्रिटिकल केयर पर भी बहुत बुरा असर पड़ा।

मध्यम और कम आय वाले देशों को सबसे ज़्यादा मुश्किलों का सामना करना पड़ा। आधे से ज़्यादा देशों में गर्भनिरोध और फैमिली प्लेनिंग (68%), मानसिक स्वास्थ्य से जुड़ी समस्याओं का इलाज (61%) और कैंसर का इलाज (55%) प्रभावित हुआ। एक चौथाई देशों में जीवनरक्षक आपातकालीन सेवाएं प्रभावित हुईं।               

लाचारीः एक लाख में बेचा नवजात शिशु

आगरा। 36 साल की बबिता ने पिछले हफ्ते एक बच्चे को जन्म दिया। उसकी यह डिलीवरी सर्जरी से हुई। अस्पताल वालों ने उसे सर्जरी के 30,000 रुपये और दवाओं के 5,000 रुपये समेत 35 हजार रुपये के बिल थमाया। बबिता के पति शिवचरण (45) रिक्शा चलाते हैं। उनके पास इतने रुपये नहीं थे। दंपती का आरोप है कि अस्पताल वालों ने उनसे कहा कि बिल चुकाने के लिए अपने बच्चे को एक लाख रुपये में बेच दें।
दंपती का यह पांचवां बच्चा है। वे उत्तर प्रदेश के आगरा में शंभू नगर इलाके में किराए के कमरे में रहते हैं। रिक्शा चलाकर शिवचरण की रोज 100 रुपये आमदनी होती है। यह आमदनी भी रोज नहीं होती है। उनका सबसे बड़ा बेटा 18 साल का है। वह एक जूता कंपनी में मजदूरी करता है। कोरोना लॉकडाउन में उसकी फैक्ट्री बंद हो गई तो वह बेरोजगार हो गया।
आशा वर्कर ले गई थी अस्पताल
बबिता ने बताया कि एक आशा वर्कर उनके घर आई। उसने कहा कि वह उसकी फ्री में डिलीवरी करवा देगी। शिवचरण ने कहा कि उन लोगों का नाम आयुष्मान भारत योजना में नहीं है लेकिन आशा ने कहा कि फ्री इलाज करवा देगी। जब बबिता अस्पताल पहुंची तो अस्पताल वालों ने कहा कि सर्जरी करनी पड़ेगी। 24 अगस्त की शाम 6 बजकर 45 मिनट पर उसने एक लड़के को जन्म दिया। अस्पताल वालों ने उन लोगों को बिल थमाया। शिवचरण ने कहा, 'मेरी पत्नी और मैं पढ़ लिख नहीं सकते हैं। हम लोगों का अस्पताल वालों ने कुछ कागजों में अंगूठा लगवा लिया। हम लोगों को डिस्चार्ज पेपर नहीं दिए गए। उन्होंने बच्चे को एक लाख रुपये में खरीद लिया।'
डीएम ने कहा, कराएंगे जांच
इस मामले में डीएम प्रभूनाथ सिंह ने कहा, 'यह मामला गंभीर है। इसकी जांच की जाएगी और दोषी पाए जाने वालों के खिलाफ उचित कार्रवाई की जाएगी।' नगर निगम के वॉर्ड पार्षद हरि मोहन ने कहा कि वह जानते हैं कि दंपती को अस्पताल के बिलों का भुगतान नहीं करने के कारण अपने बच्चे को बेचना पड़ा। उन्होंने कहा कि शिवचरण गंभीर वित्तीय संकट का सामना कर रहे थे।
अस्पताल प्रशासन ने दी सफाई
वहीं अस्पताल ने सभी आरोपों को खारिज किया है। उन्होंने कहा है कि बच्चे को दंपती ने छोड़ दिया था। उसे गोद लिया गया है, खरीदा या बेचा नहीं गया है। हम लोगों ने उन्हें बच्चे को छोड़ने के लिए मजबूर नहीं किया। ट्रांस यमुना इलाके के जेपी अस्पताल की प्रबंधक सीमा गुप्ता ने कहा, 'मेरे पास माता-पिता के हस्ताक्षर वाली लिखित समझौते की एक प्रति है। इसमें उन्हें खुद बच्चे को छोड़ने की इच्छा जाहिर की है।'
'लिखित समझौते का कोई मोल नहीं'
बाल अधिकार कार्यकर्ता नरेश पारस ने कहा कि अस्पताल के स्पष्टीकरण से उनका अपराध नहीं कम होता। हर बच्चे को गोद लेने की प्रक्रिया केंद्रीय दत्तक ग्रहण संसाधन प्राधिकरण ने निर्धारित की है। उसी प्रक्रिया के तहत ही बच्चे को गोद दिया और लिया जाना चाहिए। अस्पताल प्रशासन के पास जो लिखित समझौता है, उसका कोई मूल्य नहीं है। उन्होंने अपराध किया है।'                   


यमुना बचाओ अभियान की शुरुआत

रवि चौहान


नई दिल्ली। विश्व पुरोहित यजमान न्याय परिसंघ द्वारा संचालित यमुना बचाओ अभियान की शुरुआत दिल्ली के आईटीओ के पास यमुना घाट पर हवन पूजा एवं तुलसी के पौधा रोपण कर की गई। समिति के पदाधिकारियों ने बताया कि यमुना बचाओ अभियान का मुख्य उद्देश पर्यावरण को देखते हुए दिल्ली स्थित यमुना नदी के दोनों ओर 60 किलोमीटर तक 2 करोड़ औषधीय पौधे लगाए जाएंगे। यमुना बचाओ अभियान के तहत समन्वय समिति में आज वैदिक वीरांगना सॉन्ग हिंदू रक्षा दल एवं से कई संगठनों द्वारा यमुना बचाओ अभियान की समन्वय समिति द्वारा 108 तुलसी पौधरोपण कर शुरुआत की गई। यमुना बचाओ अभियान की अध्यक्षता प्रोमिला आर्य मुख्य प्रशासनिक गुरुजी पंडित लक्ष्मण बाल योगी समिति के वरिष्ठ पदाधिकारी आशीष मिश्रा वरिष्ठ पत्रकार एवं सामाजिक संस्था ऑल इंडिया क्राईम रिफॉर्म्स ऑर्गेनाइजेशन के प्रदेश अध्यक्ष प्रमोद गर्ग समाजसेवी जनचेतना के अध्यक्ष डॉ अनिल शर्मा जानकी सक्सेना,ऋषि सक्सेना, प्रदीप कुमार, टीटू गोस्वामी आदि समन्वय समिति के पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता मौजूद रहे।


चिंताः घट रही है मोदी की लोकप्रियता

फिसल रही है मोदी की लोकप्रियता, यूट्यूब पर लाइक से ज्यादा डिस्लाइक मिलने पर भाजपा चिंतित।


अकांशु उपाध्याय


नई दिल्ली। ऐसा लगता है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता का ग्राफ नीचे गिर रहा है। अगर उनके मन की बात कार्यक्रम के यूट्यूब पर रिएक्शन को आधार बनाया जाय तो ऐसा ही लगता है।
प्रधानमंत्री ने रविवार 30 अगस्त को अपने मासिक रेडियो कार्यक्रम ‘मन की बात’ को संबोधित किया। सोशल मीडिया प्लैटफॉर्म यूट्यूब पर भी ये कार्यक्रम प्रसारित हुआ लेकिन दर्शकों के रिएक्शन को देखकर ऐसा लग रहा है कि यह लोगों को रास नहीं आया। यही वजह है कि पीएम मोदी के ‘मन की बात’ को यूट्यूब पर पसंद करने वाले लोगों की संख्या से अधिक संख्या नापसंद करने वाले लोगों की देखी गई।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम से बने यूट्यूब अकाउंट पर ‘प्राइम मिनिस्टर नरेंद्र मोदी मन की बात विद नेशन’ शीर्षक से वीडियो अपलोडेड है। इस वीडियो के आंकड़ों पर गौर करने से पता चलता है कि इस वीडियो को 35 हजार लोगों ने जहां लाइक किया है, वहीं करीब 90 हजार लोगों ने डिस्लाइक किया है। अब तक इस वीडियो को 668,852 व्यूज मिल चुके हैं। लाइक से ज्यादा डिस्लाइक की संख्या ने भाजपा के रणनीतिकारों को चिंता में डाल दिया है। पार्टी कारणों का पता लगाने में जुटी है कि ऐसा क्यों हुआ।                      


शासन ने करोड़ों रूपये पंचायतों को दिए

सरायपाली। ग्राम पंचायतों में सरपंचों व सचिवों द्वारा शासकीय राशियों की बंदरबाट व भ्रष्टाचार किया जाता है यह न किसी अधिकारी , जनप्रतिनिधियों व प्रशासन से छिपा है। ग्रामीण क्षेत्रो में जनसुविधाओं को बढ़ाने निर्माण व विकास कार्यो के लिए शासन द्वारा करोड़ो रूपये ग्रामपंचायतों को प्रदान किया जाता है जिसमे से मुश्किल से 40 से 50 प्रतिशत ही कार्य होता है बाकी शेष रकम कमीशनखोरी व बंटवारे में निकल जाता है। भ्र्ष्टाचार को सार्वजनिक करने वाले  मीडिया से जुड़े पत्रकारों को भी पेपर , विज्ञापन व नगद राशि के माध्यम से उन्हें भी सेट कर दिया जाता है ताकि निश्चिंत होकर भ्रस्टाचार कर सकें। सर्वाधिक दुखद पहली यह है कि जब किसी पंचायतों की शिकायत संबंधित ग्राम पंचायतों के ग्रामीणों , पत्रकारों व अन्यों के द्वारा संबंधित अधिकारियों से प्रामाणिक दस्तावेजो के साथ कि जाती है तो उसके बावजूद भी अधिकारियों द्वारा कोई कार्यवाही अथवा जांच नही की किये जाने से भ्रष्टाचारीयों में डर व भय समाप्त हो गया है।इसके बावजूद जब कुछ कार्यवाही होनी होती है तो राजनैतिक , प्रशासनिक व जनप्रतिनिधियों द्वारा कार्यवाही नही किये जाने का निर्देश जारी कर दिया जाता है। कुछेक सरपंच व सचिव लोग राजनीति से जुड़े होने के कारण उन्हें सत्ताधारी पार्टी का सरंक्षण प्राप्त हो जाता है। इनकी फोटो बाकायदा  विज्ञापनों व पोस्टरों में बेहिचक दिखाई देती है। पार्टी व पत्रकारों को विज्ञापन देकर सभी को उपकृत करने व स्वयं को संरक्षित करने का प्रयास किया जाता है। इन सबमें सबसे अहम भूमिका सरपंच व सचिव संघ की रहती है जो अधिकारियों व नेताओ के संपर्क में लगातार रहकर अपने आपको बचाते हैं। आज भी सरायपाली जनपद में कई ऐसे सचिव हैं जो सालों से सरायपाली में ही अपने आकाओं के सरंक्षण में टिके हुवे है। ये पुराने सचिव काम कम करते हैं व नेतागिरी करते अधिक पाये गए है। संघ की आड़ में राजनीति करने व अपनो को सिर्फ बचाने का जारी अधिक किया जाता है। संघ का मूल उद्देश्य ही सिर्फ यही रह गया है।           


डीएम ने जिलापूर्ति विभाग की टीम को भेजा

अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। खवाजा गरीब नवाज गैस एजेंसी के सपलायरो द्वारा गैस सिलेंडर कटिग करते हुए आज प्रताप विहार से लोगों ने पकड़ कर पुलिस के हवाले कर दिया जिसकी शिकायत डी एम अजय शकर पाडेय से डी एम ने जिलापूर्ति विभाग की टीम को भेजा। टीम प्रताप विहार पुलिस चौकी पहुंची और अपनी कार्यवाही की। चौकी प्रभारी राघवेंद्र तोमर व ए आर ओ अशवनी कुमार ने बताया कि सप्लायर पुराना काटा लेकर चल रहे थे तथा उन पर आधार कारड नहीं था कुछ सिलेंडर तोल मे कम थे उन्होंने बताया कि वाट,माप तोल अधिनियम के तहत एजेंसी के खिलाफ कार्यवाही की गई है।                


1 खिलाड़ी समेत 12 मेंबर्स हुए संक्रमित

नई दिल्ली। इंडियन प्रीमियर लीग के 13वें सीजन का आयोजन 19 सितंबर से होना है। लेकिन सीएसके के एक खिलाड़ी समेत 12 मेंबर्स के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने की वजह से लीग को लेकर नए सवाल खड़े हो गए हैं। ऐसे कयास लगाए जा रहे हैं कि कोरोना के मामलों की वजह से सीएसके को ओपनिंग मैच से बाहर रखा जा सकता है। धोनी की अगुवाई वाली सीएसके पिछले सीजन की उपविजेता रही है। 


बीसीसीआई ने 19 सितंबर से शुरू हो रहे इंडियन प्रीमियर लीग के 13वें सीजन का शेड्यूल अब तक जारी नहीं किया है। हालांकि आईपीएल का शुरुआती मैच पिछले सीजन की विजेता और उपविजेता टीम के बीच ही खेला जाता है।बीसीसीआई ने पहले जो शेड्यूल जारी किया था उसमें आईपीएल 13 का आगाज मुंबई इंडियंस और सीएसके के बीच टक्कर से होना था।               


नंदी ग्राम सुंगेरा के पास हुआ शव बरामद

रायपुर। धरसींवा थाना क्षेत्र अंतर्गत एक युवक की खारुन नदी ग्राम सुंगेरा के पास शव बरामद हुआ है जो की धरसीवां क्षेत्र के अंतिम छोर का गांव हैं अभी तक शिनाख्त नहीं हो सकी है। लेकिन शव पूरी तरीके से गल गया है, लेकिन उसके हाथ में मोबाइल अभी भी पकड़ा हुआ देख रहा है। पुलिस मामले की जांच में जुट गई है हालांकि शव को देख कर काफी पुराना है वैसे इस क्षेत्र में गांव से काफी दूर नदी पड़ती हैं जिसके चलते लोगों को लाश का पता नहीं चल पाया नदी किनारे इलाका सुनसान पाया जाता है काफी पुरानी होने के बाद लाश लोगों की नजर पड़ी बॉडी पूरी तरीके से सड़ गई है लाश को कब्जे में लेकर पुलिस प्रशासन शव को पोस्टमार्टम कर जांच में जुटी धरसीवा पुलिस|



इसे भी पढ़े   आर पी एफ ने निराश्रितों को कराया भोजन           


चुनिंदा गर्भपातः लड़कियों की संख्या घटेगी

नई दिल्ली। भारत में चुनिंदा गर्भपात के चलते 2030 तक लड़कियों के जन्म के आंकड़े में लगभग 68 लाख की कमी आएगी और सबसे अधिक कमी उत्तर प्रदेश में देखने को मिलेगी। सऊदी अरब की किंग अब्दुल्ला यूनिवसिर्टी ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी और यूनिवर्सिटे डे पेरिस, फ्रांस के शोधकर्ताओं ने एक अध्ययन के बाद यह बात कही है।


1970 के दशक से भारत में रहा है असंतुलन
अध्ययन में कहा गया है कि भारत में प्रसव पूर्व लिंग चयन और सांस्कृतिक रूप से लड़कों को अधिक प्राथमिकता दिए जाने की वजह से 1970 के दशक के समय से जन्म के समय लैंगिक अनुपात में असंतुलन रहा है। शोधकर्ताओं ने कहा कि इस तरह के असंतुलन से प्रभावित दूसरे देशों के विपरीत भारत में लैंगिक अनुपात में असंतुलन क्षेत्रीय विविधता के हिसाब से अलग-अलग है।               


दुष्कर्म पर कांग्रेसियों ने किया 'धरना- प्रदर्शन'

नैनीताल। द्वाराहाट विधायक पर दुष्कर्म का मुकदमा शीघ्र दर्ज करने की मांग को लेकर सोमवार को कांग्रेसियों ने सरोवर नगरी नैनीताल के तल्लीताल गांधी पार्क में धरना प्रदर्शन कर उपजिलाधिकारी को ज्ञापन सौंपा।
इस दौरान उत्तराखंड महिला कांग्रेस अध्यक्ष एवं पूर्व विधायक नैनीताल श्रीमती सरिता आर्य ने कहा कि द्वाराहाट के विधायक पर दुष्कर्म का मामला राज्य सरकार के दबाब में दर्ज नहीं किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि एक और भाजपा बेटी बचाओ का नारा दे रही है तो दूसरी ओर खुद भाजपा नेता ही बेटियों का अपमान कर रहे हैं। लेकिन प्रदेश में भाजपा की सरकार होने के चलते उन पर मुकदमें दर्ज नहीं हो रहे हैं।
पूर्व विधायक ने कहा कि भाजपा की कथनी और करनी को देखते हुए अब तो ऐसा लगता है कि भाजपा नेताओं से ही बेटियों का बचाना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि विधायक प्रकरण की जल्द से जल्द जांच हो, और सरकार को इस मामले में दखल नहीं देना चाहिए।
इस दौरान पूर्व सांसद महेंद्र पाल ने कहा कि भाजपा नेताओं द्वारा बेरोजगारों के संग छल करते हुए अपने बच्चों को बिना विज्ञप्ति निकाले बैकडोर से सरकारी नौकरी में नियुक्त किया जा रहा है।यह प्रदेश के युवाओं के साथ नाइंसाफी है जिसे किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं किया जायेगा।
इस धरना प्रदर्शन कार्यक्रम में नगर कांग्रेस अध्यक्ष अनुपम कबड़वाल, हेम चंद आर्य, सुमित हृदयेश, खष्टी बिष्ट, मुकेश जोशी मंटु, मनमोहन कनवाल, पुष्कर बोरा, जेके शर्मा, संजय कुमार, पप्पू कर्नाटक, सूरज पांडे, कैलाश अधिकारी, राजेंद्र समेत कई अन्य कांग्रेसी कार्यकर्ता शामिल थे।             


सकल घरेलू उत्पाद में 23 फ़ीसदी गिरावट

नई दिल्ली। कोरोना के कारण अप्रैल से जून के इस वित्त वर्ष की पहली तिमाही के सकल घरेलू उत्पाद (GDP) में 23.9 फीसदी की रिकॉर्ड गिरावट दर्ज की आई है। सांख्यिकी और कार्यक्रम क्रियान्वयन मंत्रालय ने वित्त वर्ष 2020-21 की अप्रैल से जून तिमाही के लिए जीडीपी के आंकड़े जारी कर दिये हैं।


थोड़ी देर पहले आए कोर सेक्टर के आंकड़ों ने भी निराश किया है। जुलाई महीने में आठ इंडस्ट्री के उत्पादन में 9.6 फीसदी की गिरावट आई है। मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, पहली तिमाही में स्थिर कीमतों पर यानी रियल जीडीपी 26.90 लाख करोड़ रुपये की रही है, जबकि ​पिछले वर्ष की इसी अवधि में यह 35.35 लाख करोड़ रुपये की थी। इस तरह इसमें 23.9 फीसदी की गिरावट आई है।             


निशुल्क ऑनलाइन छात्रवृत्ति फार्म भरेंं

लखनऊ। राजधानी के कैम्पवेल रोड स्थित असियामऊ में अल-उस्मान एजुकेशनल एण्ड वेलफेयर फाउण्डेशन द्वारा सभी छात्र-छात्राओं के छात्रवृत्ति आवेदन फाॅर्म ऑनलाइन निःशुल्क।
भरवाए जा रहे हैं।यह जानकारी देते हुए फाउण्डेशन के संस्थापक एवं सचिव मोहम्मद हसीन ने बताया कि संस्था के माध्यम से ऐसे तमाम बच्चों के स्काॅलरशिप फाॅर्म फ्री में ऑनलाइन भरवाए जाते है जो किसी भी सरकारी या गैर सरकारी विद्यालय में पढ़ रहे हैं।संस्था द्वारा यह कार्य पिछले तीन वर्षों से लगातार किया जा रहा है जिससे छात्रवृत्ति के हक़दार बच्चों को उनका हक़ मिल सकें और वह शिक्षा से वंचित न रहने पाएं।हसीन के अनुसार उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा छात्रों को हर वर्ष छात्रवृत्ति देने की सुविधा उपलब्ध है,परन्तु बड़ी संख्या में हर साल बच्चे इस सुविधा का लाभ उठाने से वंचित रह जाते हैं।जिसका एक कारण तो जागरूकता की कमी है तो दूसरे छात्रवृत्ति आवेदन करने के लिए जिन प्रमाण पत्रों की आवश्यकता होती है उसमें बहुत सारे छात्रों का सही समय पर प्रमाण-पत्र न बन पाने के कारण भी वह समय रहते आवेदन करने से छूट जाते है।हसीन कहते है कि संस्था ने सभी समस्याओं को देखते हुए एक अभियान तीन साल पहले शुरू किया था,जिसमें लखनऊ के तमाम स्कूल कालेजों से में पढ़ने वाले तमाम ऐसे छात्रों की सूची प्राप्त कर रही है जिन्हें छात्रवृत्ति के लिए आवेदन करने में किसी भी प्रकार की समस्याएं आ रही है।फाउण्डेशन द्वारा यह अभियान हर वर्ष चलाया जाता है जिससे कोई भी ज़रूरतमंद विद्यार्थी इससे वंचित न रहे। फाउण्डेशन के सचिव हसीन ने बताया कि वाई.ए.
इंटरनेट ज़ोन(Y.A Internet Zone)रौशन नगर निकट एक मिनारा मस्जिद कैम्पवेल रोड असियामऊ,लखनऊ पर आकर सभी छात्र-छात्राएं अपना छात्रवृत्ति आवेदन फार्म भरवा सकते है।जिसके लिए उन्हें किसी भी प्रकार का कोई शुल्क नहीं देना होगा।आवेदन करने के लिए आधार कार्ड,पासपोर्ट साइज फोटो,बैंक खाता,पिछले वर्ष अंक पत्र,निवास एवं आय प्रमाण पत्र और मोबाइल नम्बर लाना होगा।
अधिकारी जानकारी के लिए वाई.ए.इंटरनेट ज़ोन के टोल फ्री            नम्बर पर सम्पर्क कर सकते हैं।


मुखर्जी का जाना संघ के लिए अपूरणीय क्षति

जानेंं, प्रणब दा को लेकर आरएसएस ने क्या कहा।


नई दिल्ली। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) ने भी पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के निधन पर शोक जताया है। आरएसएस ने उन्हें अपना मार्गदर्शक बताते हुए निधन को संगठन के लिए अपूरणीय क्षति बताया है।राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक मोहन भागवत और सरकार्यवाहक सुरेश भय्याजी जोशी के हवाले से जारी बयान में कहा गया है कि मुखर्जी का जाना संघ के लिए एक अपूरणीय क्षति है।
संघ ने कहा, कुशल प्रशासक, राष्ट्र-हित सर्वोपरि का भाव जीवन में रख, राजनैतिक अस्पृश्यता से परे व सभी दलों में समान रूप से सम्मानित, मितभाषी, लोकप्रिय पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी आज अपनी जीवन यात्रा पूर्ण कर परम तत्व में विलीन हो गए। संघ प्रमुख मोहन भागवत ने श्रद्धांजलि देते हुए कहा, भारत के राजनैतिक-सामाजिक जीवन में उपजी इस शून्यता को भरना आसान नहीं होगा।संघ के प्रति उनके प्रेम और सद्भाव के चलते हमारे लिए तो वे एक मार्दर्शक थे।उनका जाना संघ के लिए एक अपूरणीय क्षति है।                    


बारिश के कारण मच्छरों का कहर जारी

नई दिल्ली। बारिश के मौसम में मच्छरों से होने वाली बीमारियों से बचना बेहद मुश्किल हो जाता है। इस मौसम में यह बीमारियां माहमारी की तरह फैलना शुरू हो जाती हैं। डेंगू, चिकनगुनिया और मलेरिया इनमें प्रमुख हैं।मच्छर देखने में भले ही छोटे से हों, लेकिन इनके काटने से होने वाली बीमारियां जानलेवा साबित हो सकती हैं।


मच्छरों के ज़बरदस्त कहर के बाद से इन्हें शेर या सांप जैसे जानवरों से भी ज़्यादा खतरनाक माना गया है। इसके अलावा भी इनसे जुड़ी कई ऐसी बातें हैं जिन्हें पढ़कर आप दंग रह जाएंगे। पढ़ें मच्छरों के बारे में 10 चौकानें वाली बातें।


1. क्या आप जानते हैं कि नर मच्छर कभी नहीं काटते। जीं हां, आपने सही पढ़ा। लोगों को हमेशा मादा मच्छर ही काटती है। ऐसा इसलिए क्योंकि मादा मच्छर को अपने अंडों के विकास के लिए प्रोटीन की ज़रूरत होती है और वो उसे इंसानों के खून में मिलता है।


2. मादा मच्छर एक वक्त में करीब 300 अंडे देती है। वहीं, एक मच्छर की आयु दो महीने से कम होती है। नर मच्छर 10 दिनों तक और मादा मच्छर 6 से 8 हफ्ते तक जिंदा रहती है।


3. मच्छरों के दांत नहीं होते इसलिए वह अपने मुंह के नुकीली और लंबे डंक से काटते हैं। एक मच्छर अपने वजन से तीन गुणा ज़्यादा खून पी सकता है।


4. अगर आपको पसीना कुछ ज्यादा ही आता है, तो आपको मच्छर भी ज्यादा ही काटेंगे। पसीने की महक मच्छरों को खींचती है।


5. अगर आप बीयर पीते हैं, तो मच्छर आपको अपना शिकार ज़रूर बनाएंगे। रिसर्च में साबित हुआ है कि जो लोग बीयर पीते हैं मच्छर दूसरे के मुकाबले उनकी तरफ कुछ ज्यादा ही अट्रैक्ट होते हैं।


6. मच्छरों को सिर्फ बीयर पीने वाले नहीं, बल्कि गर्भवती महिलाएं और ‘ओ’ ब्लड ग्रुप वाले लोग भी काफी पसंद आते हैं। ऐसे लोगों को ये ज्यादा काटते हैं।


7. अगर आपके घर में तुलसी का पौधा है, तो इसकी खुशबू से मच्छर आपके आस-पास नहीं आएंगे। मच्छर तुलसी के पत्तों से दूर भागते हैं।


8. तुलसी के पत्तों के अलावा, मच्छरों को लैवेंडर, गेंदे के फूल और लहसुन की महक भी पसंद नहीं होती। ऐसी चीजें जिसमें से नींबू जैसी खुशबू आती है इससे भी मच्छर दूर ही रहते हैं।


9. आपको यह जानकर काफी हैरानी होगी कि मच्छरों की याद्दाश्त काफी तेज होती है। रिसर्च में साबित हुआ है कि जब आप किसी मच्छर को मारने की कोशिश करते हैं, तो वो आपके आसपास कम से कम 24 घंटों तक नहीं मंडराएगा।


10. मच्छर इंसानों की महक को पहचानते हैं। वो आपकी महक से पहचान जाते हैं कि उनका आपसे पहले सामना हुआ है कि नहीं।         


फतवाः वैक्सीन हराम, इसे ना लगवाएं

इमाम ने जारी किया फतवा, कोरोना की वैक्सीन लगवाना है ‘हराम’


नई दिल्ली। एक तरफ पूरी दुनिया में कोरोना के टीके की खोज जारी है ताकि लोगों को इस गंभीर महामारी से बचाया जा सके। वहीं कुछ बेवकूफ अपनी हरकतों से बखेड़ा खड़ा करने से बाज नहीं आ रहे हैं।
अब ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी की तरफ से विकसित किए जा रहे कोरोना वैक्सीन को लेकर विवाद खड़ा हो गया है। ऑस्ट्रेलिया के एक इमाम ने इस वैक्सीन को हराम बताते हुए मुसलमानों से इसे ना लगवाने की अपील की है। सुफयान खलीफा नामके इमाम ने हाल ही में एक वीडियो के जरिए अपने फॉलोअर्स से यह अपील की है।इमाम ने इसे हराम बताते हुए उन मुस्लिमों पर निशाना साधा जो इसे लगवाने के पक्ष में हैं।
इस तथाकथित धर्मगुरु ने कहा, उन मुस्लिम संस्थाओं को शर्म आनी चाहिए जो वैक्सीन के इस्तेमाल को सही ठहरा रहे हैं। इसके लिए फतवा साइन करने वाले इमामों को शर्म आनी चाहिए। कैथोलिकों ने इस वैक्सीन का विरोध किया है क्योंकि वे जानते हैं कि यह हराम है। यह अवैध है। इमाम के साथ कुछ और धार्मिक नेताओं ने भी ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के वैक्सीन का विरोध किया है।  ऑस्ट्रेलिया सरकार ने सफल ट्रायल के बाद ऑक्सफोर्ड वैक्सीन लोगों को उपलब्ध कराने के लिए इसे बनाने वाली कंपनी एस्ट्रोजेनिका के साथ करार किया है।                     


राजस्थान के 13 जिलों में बारिश का अलर्ट

जयपुर/जोधपुर। राजस्थान में पिछले कई दिनों से हो रही बारिश ने प्रदेश के सभी जिलों को भिगाों कर रख दिया है। वंही मौसम विभाग (IMD) ने प्रदेश में एक सितंबर को 13 जिलों में येलो अलर्ट जारी किया है।


इन जिलों में येलो अलर्ट
मौसम विज्ञाग से मिली जानकारी अनुसार पूर्वी राजस्थान के अजमेर, झंझुनूं, सीकर, सिरोही, टोंक जिलों में तथा पश्चिमी राजस्थान के बीकानेर, चूरू, नागौर, जैसलमेर, जोधपुर, जैसलमेर, हनुमानगढ़, श्रीगंगानगर जिलों में कुछ स्थानों पर बादल गरजने के साथ भारी बारिश का यलो अलर्ट जारी किया है। इनमें से अधिकतर जिलों में पिछले 24 घंटों में बादलों का दौर भी जारी है और आधा दर्जन जिलों में बरसात का दौर रुक रुक कर जारी है।           


भारत में संक्रमण का कहर लगातार जारी

नई दिल्ली। भारत में कोरोना वायरस के 36.87 लाख मामले सामने आ चुके हैं। भारत एशिया में सबसे संक्रमित देश है। इतना ही नहीं यहां हर रोज दुनिया के कुल केसों के 30% मामले निकल रहे हैं। इसके अलावा कोरोना से हर रोज दुनियाभर में होने वाली मौतों की 20% यहां हो रही हैं। इंडियन पब्लिक हेल्थ एसोसिएशन का मानना है कि भारत में पीक अब कुछ दूरी पर ही है।


भारत में COVID-19 महामारी पर तीसरे संयुक्त बयान में विशेषज्ञों का मानना है कि भारत में 23 लाख लोगों का ठीक होना काफी प्रभावशाली है। इसके अलावा यहां केस मृत्यु दर भी लगातार घट रही है।                        


‘पीक आने में कुछ दिन बाकी हैं’
अप्रैल में हेल्थ एक्सपर्ट्स का एक जॉइंट टास्क फोर्स बनाया गया था, जिसे कोरोना के समय कंटेनमेंट जोन को लेकर केंद्र सरकार को सवाह देनी थी। एक्सपर्ट ने अपनी रिपोर्ट में कहा, भारत में हर रोज 70 हजार केस (16 अगस्त) सामने आ रहे हैं। यानी अभी भारत में पीक आने में बस कुछ दिन बाकी हैं।


भारत में हर 10 लाख पर 2251 केस
भारत में 5 जून को 9472 केस निकले थे। वहीं, दो महीने के अनलॉक फेज में 23 अगस्त को 61749 केस सामने आए। भारत में हर 10 लाख लोगों पर 2251 संक्रमित हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि कोरोना के चलते पूरी स्वास्थ्य प्रणाली का ध्यान इसी पर है। इसके चलते राष्ट्रीय स्वास्थ्य कार्यक्रमों को सीमित स्थान मिला है।


रिपोर्ट के मुताबिक, भारत के विभिन्न हिस्सों से सीरो-निगरानी रिपोर्टों से संकेत मिले हैं कि ‘टेस्ट, ट्रेस, ट्रीट, और आइसोलेट’ की वर्तमान रणनीति के माध्यम से हम कोरोना संक्रमण के कुल अनुमानित मामलों के 5% से भी कम का पता लगा रहे हैं।           


अमेरिकी एक्सचेंज नैसडैक पर शानदार एंट्री की

अकांशु उपाध्याय      नई दिल्ली। बिजनेस सॉफ्टवेयर फर्म फ्रेशवर्क्स इंक ने बुधवार को अमेरिकी एक्सचेंज नैसडैक पर शानदार एंट्री की है। अपने शानद...