शनिवार, 7 सितंबर 2019

जश्न नहीं, भरोसा बनाए सरकार: प्रियंका

नई दिल्ली। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने कहा है कि अपने दूसरे कार्यकाल के सौ दिन पूरा होने पर जश्न मनाने की तैयारी कर रही भारतीय जनता पार्टी सरकार को आर्थिक हकीकत पर पर्दा डालने की बजाय अर्थव्यवस्था में भरोसा बनाने के लिए काम करना चाहिए। वाड्रा नेे शनिवार को ट्वीट किया, “भाजपा सरकार सौ दिन का जश्न मनाने जा रही है। लेकिन ऑटो सेक्टर, ट्रांसपोर्ट सेक्टर, माइनिंग सेक्टर को तो ये जश्न बर्बादी के जश्न जैसा लगेगा। हर सेक्टर से एक के बाद एक प्लांट बंद होने और नौकरियाँ जाने की खबर आ रही हैं। वक़्त जश्न मनाने की बजाय अर्थव्यवस्था में भरोसा बनाने का है। क्या सरकार के पास ये सच स्वीकारने का साहस है?” इसके साथ ही उन्होंने एक न्यूज चैनल में चल रही खबर का वीडियो भी पोस्ट किया है जिसमें कहा जा रहा है कि सरकारी आंकडों के अनुसार सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) की वृद्धि दर लगातार घट रही है। देश सबसे बड़े आर्थिक संकट से जूझ रहा है। ऑटो सेक्टर में आ रही भारी गिरावट के कारण बंद करने पड़ रहे हैं प्लांट।


उत्पीड़न के खिलाफ सपा का प्रदर्शन

बहराईच। थाना रामगांव के अंतर्गत जमापुर में पांच दिन पहले बच्चा चोरी की अफवाह को लेकर पकड़े गए युवक को ग्रामीणों ने पुलिस को बुलाकर सौप दिया था। युवक को थाने ले जाने के दौरान बच्चों ने हुल्लड़बाजी शुरू कर दी। ईस दौरान पुलिस टीम के साथ आये कुछ नशेड़ी पुलिसकर्मियों ने बच्चों की पिटाई शुरू कर दी ।
घटना से आक्रोशित ग्रामीणों ने पुलिस पर पथराव किया । मौके से रवाना हुई पुलिस एक घंटे बाद सात गाड़ियों में भरकर गांव में पहुंची और घरों का दरवाजा तोड़कर घरों में घुस गई। पुलिस ने महिलाओं, पुरुषो और बच्चों को पर जमकर पीटा। पिटाई में 25 महिलाओ को चोट आई थी। जिसको लेकर महिलाओ ने एस पी से न्याय की गुहार लगाई थी। लेकिन एस पी ने दोषी पुलिसकर्मियों पर मुकदमा दर्ज कराने की जगह सैकड़ो ग्रामीणों पर मारपीट मुकदमा लिखवा दिया था। पुलिस कक इकतरफा कार्यवाई को लेकर अब ये मामला राजनैतिक तूल पकड़ रहा है।
समाजवादी पार्टी के पूर्व विधायक रामतेज यादव, अपने सैकड़ो समर्थक लेकर ग्रामीणों को न्याय दिलाने और महिलाओ से मारपीट के सम्बंध में दोषी पुलिस वालों पर मुकदमा लिखाने के लिए रिक्शे पर बैठकर जिलाधिकारी कार्यालय पहुँचे। सपाईयों ने डीएम कार्यालय के बाहर सरकार विरोधी नारे लगाए। मुख्यमंत्री व राज्यपाल के नाम से संबोधित एक ज्ञापन सिटी मजिस्ट्रेट जयप्रकाश को सौंपा। और दोषी पुलिस वालों के खिलाफ एफ आई आर कराने की माग की।


व्यापारियों का सरकार के खिलाफ प्रदर्शन

बिजली, पेट्रोल, डीजल में कई गई वृद्धि तत्काल वापस ली जाए । पंकज वर्मा सर्राफ
 
शाहजहांपुर। उत्तर प्रदेश आदर्श व्यापार मण्डल ने बिजली दरों व मोटर एक्ट व्हीकल एक्ट में बढ़ोतरी के खिलाफ धरना प्रदर्शन किया। शुक्रवार को जिलाध्यक्ष पंकज वर्मा सर्राफ़ के नेतृत्व में दर्जनों संगठन से जुड़े व्यापारी सुबह 11 बजे जुलूस की शक्ल में एकत्र हुए और नारेबाजी करते हुए प्रदेश सरकार द्वारा बिजली की दरों में की गई 12 प्रतिशत की बृद्धि व मोटर व्हीकल एक्ट में हजारों रुपये के चालान लागू करने के विरोध में कलेक्ट्रेट गेट पर दोनों समस्याओं को लेकर प्रतियां जलाकर विरोध प्रदर्शन किया। एवं नारेबाजी करते हुए राज्यपाल को सम्बोधित ज्ञापन नगर मजिस्ट्रेट को सौंपा।
इस मौके पर पंकज वर्मा सर्राफ ने ज्ञापन के माध्यम से बताया कि देश व प्रदेश में आम नागरिक मंदी की मार से जूझ रहा है ऊपर से सरकार लगातार पेट्रोल, डीजल, बिजली दरों में बढ़ोतरी करके बोझ बड़ा रही है।
जिससे आम जन मानस पर दोहरी मार पड़ रही है। वर्तमान समय मे व्यापारी, किसान, आम नागरिक मंदी की मार से जूझ रहा है अगर समय रहते पेट्रोल, बिजली, मोटर व्हीकल एक्ट में जुर्माने में की गई बढ़ोतरी वापास नही हुई तो संगठन प्रदेश स्तर पर आंदोलन करने के लिए बाध्य होगा।
उन्होंने सरकार द्वारा की गई बृद्धि को जनहित में तत्काल वापस लिए जाने की मांग की। इस मौके पर तिलक राज भोला, रमेश शुक्ला, शकील अहमद, जितेन्द्र नाथ शुक्ला, अजय मोहन शुक्ला, ओमबाबू सर्राफ, हाजी अली हसन, दीपू रस्तोगी, अन्नू वर्मा, बाल कृष्ण रस्तोगी, अनवार खान, संतोष पाल, कपिल अग्रवाल, सुनील रस्तोगी, ऋषि शर्मा, राजीव सिंह, फकरुद्दीन, मोहम्मद साजिद, पौरुष रस्तोगी, आकिल, रमाकांत वर्मा, गोविंद राठौर, महेश सोलंकी आदि लोग मौजूद रहे।


रोजगार मेले में 139 अभ्यर्थी चयनित

रायबरेली। जिला सेवायोजन कार्यालय रायबरेली में एक दिवसीय रोजगार मेला का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का शुभारम्भ मुकेश सिन्हा कन्ट्री लाइजनिंग आफिसर बैंक आफ बडौदा यू0ए0ई0 द्वारा किया गया उन्होने अभ्यर्थियों को सम्बोधित करते हुए कहा कि अवसर को पहचान युवावस्था की सबसे महत्वपूर्ण जिम्मेदारी है। अच्छी बात यह है कि आप अवसर को पहचानने की प्रतिबद्वता के साथ यहां आये है। यकीन यहॉ मिल रहा एक छोटा सा अवसर आप के भविष्य को आपके सपनों के अनुरुप मूर्तरुप देगा। जिला सेवायोजन अधिकारी डी0पी0 सिंह ने रोजगार मेलों के निरन्तर आयोजन की प्रतिबद्वता के दोहराते हुए युवाओं को अपने अभिरुचि के अनुरुप कॅरियर चुनने का सुझाव दिया। उन्होने कहा कि नियोजकों से संवाद करें, सेवा शर्तो के बारे में पता करें। उसी नियोजक के यहॉ सेवा का चयन करें, जिससे आपके सपने साकार हो सके। कम्पनी प्रतिनिधि हरिओम, फिरोज आलम, सुनील गुप्ता, राघवेन्द्र सिंह, द्वारा अपने कम्पनी की सेवा शर्तो के बारे मे जानकारी दी गयी।
मेले में 04 कम्पनियों द्वारा साक्षात्कार की प्रक्रिया पूर्ण की गयी जिसमें 504 अभ्यर्थियों ने प्रतिभाग किया। विभिन्न पदों हेतु कुल 136 .अभ्यर्थियों को चयनित किया गया। वेल्सपन इण्डिया गुजरात,ं द्वारा 70 ट्रेनीज आपरेटर, जय शक्ति बायो टेक्नोलॉजी प्रा0लि0 कानपुर द्वारा 16 सेल्समैन, ए0एन0आई0 टेक्नोलॉजी प्रा0लि0 लखनऊ द्वारा 26 ओला बाइक राइडर, कैथ्ेरो टेक्नोलॉजी प्रा0लि0 द्वारा 24 डिलवरी पर्टनर, पद पर अभ्यर्थियों को चयनित किया गया।
डी0पी0सिंह जिला सेवायोजन अधिकारी द्वारा कम्पनी प्रतिनिधियों का धन्यवाद ज्ञापित किया गया। मंच संचालन श्री सतंलाल पाल द्वारा किया गया। कार्यालय के रामसेवक, रवीन्द्रकुमार सोनकर, गुलरेज सुहेल, रामगुंलाम भारतीय, हाशिमी वारिस, सुरेश कुमार द्वारा मेले के आयोजन में सहयोग प्रदान किया गया।


चलती होंडा सिटी कार में लगी आग

ओवर हीट से होंडा सिटी कार में लगी आग से खाक हो गई कार, कार सवार ने कार से कूद कर अपनी जान बचाई।   विक्रम
गौतमबुध नगर। नोएडा के अग्रसेन मार्ग पर बने एलिवेटेड रोड पर इस्कॉन मंदिर के पास चलती हुई होंडा सिटी कार के ओवर हीट होने कारण आग लग गई। गाड़ी में लगी आग को देख कार को चला रहा शख्स कार को रोक कर कूद कर बाहर आ गया जिससे उनकी जान बच गई, कार चालक ने कार में लगी आग को बुझाने की काफी कोशिश की कार में लगी आग भड़कती चली गई जिससे कार जल कर खाक हो गई। वहां से गुजर रहे लोगो इसकी सूचना पुलिस कंट्रोल रूम में दी और आग को बुझाने की कोशिश की और फायर ब्रिगेड को फोन किया मौके पर पहुंची दमकल की गाडी ने आग पर काबू पाया लेकिन तब तक गाडी जल कर खाक हो गई थी। कार में लगी आग के कारण एलिवेटेड रोड पर ट्रैफिक काफी देर तक बाधित रहा।
एलिवेटेड रोड पर धू-धू कर जलती होंडा सिटी कार की तस्वीर काफी भयावह है। दमकल की गाडी ने आग पर काबू पाया, तब तक गाडी जल कर खाक हो गई थी। कार को चला रहे नरेंद्रर का कहना है की वह मैकेनिक है और कार में ओवर हीट की प्रोब्लम होने के कारण उसे ठीक करने के लिए सैक्टर 16 लेकर जा रहा था जब गाड़ी को ठंडा करने के लिए पानी भी डाल रहा था। लेकिन जब कार इस्कॉन मंदिर से कुछ दूरी पर थी तभी कार में आग लग गयी। उसने फौरन कार से बाहर आ गया और आग बुझाने की कोशिश करने लगा लेकिन आग भड़कती चली गई और पूरी कार को अपनी चपेट में ले लिया।
पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार वहां से गुजर रहे लोगो इसकी सूचना पुलिस कंट्रोल रूम में दी और आग को बुझाने की कोशिश की और फायर ब्रिगेड को फोन किया मौके पर पहुंची दमकल की गाडी ने आग पर काबू पाया लेकिन तब तक गाडी जल कर खाक हो गई थी। कार में लगी आग के कारण एलिवेटेड रोड पर ट्रैफिक काफी देर तक बाधित रहा।


तुरंत चालान के विरुद्ध भी है प्रावधान

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट के सीनियर एडवोकेट विनय कुमार गर्ग और एडवोकेट रोहित श्रीवास्तव ने बताया कि सेंट्रल मोटर व्हीकल रूल्स के नियम 139 में प्रावधान किया गया है कि वाहन चालक को दस्तावेजों को पेश करने के लिए 15 दिन का समय दिया जाएगा। ट्रैफिक पुलिस तत्काल उसका चालान नहीं काट सकती है।
डीएल-आरसी नहीं दिखाने पर तत्काल चालान नहीं काट सकती ट्रैफिक पुलिस, ये है कानून नया मोटर व्हीकल एक्ट लागू होने के बाद से वाहन का रजिस्ट्रेशन सर्टीफिकेट (आरसी), इंश्योरेंस सर्टीफिकेट, पॉल्यूशन अंडर कंट्रोल सर्टिफिकेट, ड्राइविंग लाइसेंस और परमिट सर्टिफिकेट तत्काल नहीं दिखाने पर ताबड़तोड़ चालान करने की खबरें आ रही हैं। हालांकि सेंट्रल मोटर व्हीकल रूल्स के मुताबिक अगर आप ट्रैफिक पुलिस को मांगने पर फौरन रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट (आरसी), इंश्योरेंस सर्टिफिकेट, पॉल्यूशन अंडर कंट्रोल सर्टिफिकेट, ड्राइविंग लाइसेंस (डीएल) और परमिट सर्टिफिकेट नहीं दिखाते हैं, तो यह जुर्म नहीं है।


सुप्रीम कोर्ट के सीनियर एडवोकेट विनय कुमार गर्ग और एडवोकेट रोहित श्रीवास्तव ने बताया कि सेंट्रल मोटर व्हीकल रूल्स के नियम 139 में प्रावधान किया गया है कि वाहन चालक को दस्तावेजों को पेश करने के लिए 15 दिन का समय दिया जाएगा। ट्रैफिक पुलिस तत्काल उसका चालान नहीं काट सकती है। इसका मतलब यह हुआ कि अगर चालक 15 दिन के अंदर इन दस्तावेजों को दिखाने का दावा करता है, तो ट्रैफिक पुलिस या आरटीओ अधिकारी वाहन का चालान नहीं काटेंगे। इसके बाद चालक को 15 दिन के अंदर इन दस्तावेजों को संबंधित ट्रैफिक पुलिस या अधिकारी को दिखाना होगा।
एडवोकेट श्रीवास्तव ने यह भी बताया कि मोटर व्हीकल एक्ट 2019 की धारा 158 के तहत एक्सीडेंट होने या किसी विशेष मामलों में इन दस्तावेजों को दिखाने का समय 7 दिन का होता है। इसके अलावा ट्रैफिक कानून के जानकार लॉ प्रोफेसर डॉ राजेश दुबे का कहना है कि अगर ट्रैफिक पुलिस आरसी, डीएल, इंश्योरेंस सर्टीफिकेट, पॉल्यूशन अंडर कंट्रोल सर्टिफिकेट, ड्राइविंग लाइसेंस और परमिट सर्टिफिकेट तत्काल नहीं दिखाने पर चालान काटती है, तो चालक के पास कोर्ट में इसको खारिज कराने का विकल्प रहता है।
सीनियर एडवोकेट गर्ग का कहना है कि अगर ट्रैफिक पुलिस गैर कानूनी तरीके चालान काटती है, तो इसका मतलब यह कतई नहीं होता है कि चालक को चालान भरना ही पड़ेगा। ट्रैफिक पुलिस का चालान कोई कोर्ट का आदेश नहीं हैं। इसको कोर्ट में चुनौती दी जा सकती है। अगर कोर्ट को लगता है कि चालक के पास सभी दस्तावेज हैं और उसको इन दस्तावेजों को पेश करने के लिए 15 दिन का समय नहीं दिया गया, तो वह जुर्माना माफ कर सकता है।
एडवोकेट रोहित श्रीवास्तव ने बताया कि चालान में एक विटनेस के साइन होना भी जरूरी है। कोर्ट में मामले के समरी ट्रायल के दौरान ट्रैफिक पुलिस को विटनेस पेश करना होता है. अगर पुलिस विटनेस पेश नहीं कर पाती है, तो कोर्ट चालान माफ कर सकती है। उन्होंने बताया कि ज्यादातर मामलों में पुलिस विटनेस पेश नहीं कर पाती है और इसका फायदा चालक को मिलता है।


धर्मेंद्र करेगें सऊदी अरब,यूएई,कतर की यात्रा

नई दिल्ली। केंद्रीय पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस तथा इस्‍पात मंत्री श्री धर्मेंद्र प्रधान आज यानी 7 सितंबर से 12 दिसंबर तक अपनी सऊदी अरब, यूएई और कतर की यात्रा पर जाएंगे। उनके साथ एक व्‍यापार प्रतिनिधिमंडल भी जाएगा। श्री प्रधान तेल एवं प्राकृतिक गैस तथा इस्‍पात क्षेत्रों पर तीनों देशों के समकक्ष मंत्रियों के साथ वार्ता करेंगे और 10 सितंबर को आबुधावी में 8वें एशियाई मंत्रिस्‍तरीय ऊर्जा गोलमेज (एएमईआर) बैठक में भी भाग लेंगे। भारत यूएई के साथ इस बैठक का संयुक्‍त आयोजक है। भारत 2021 में 9वें ऊर्जा गोलमेज सम्‍मेलन का आयोजन करेगा। सबसे पहले सऊदी अरब में श्री प्रधान ऊर्जा मंत्री श्री खालिद अल-फलीह तथा सऊदी अरब की राष्‍ट्रीय तेल कंपनी, अरामको के वरिष्‍ठ प्रबंधन के साथ बैठक करेंगे।


यूएई की यात्रा के दौरान श्री धर्मेंद्र प्रधान यूएई के ऊर्जा और उद्योग मंत्री श्री सुहेल मोहम्‍मद फराज अल मजरोऊई तथा राज्‍य मंत्री एवं एडनोक ग्रुप के सीईओ डॉ. सुल्‍तान अहमद अल जबेर के साथ बैठक करेंगे। इस बैठक में हाइड्रोकार्बन और इस्‍पात विषयों पर चर्चा होगी। वही कतर में अपनी यात्रा के दौरान श्री प्रधान कतर के प्रधानमंत्री एवं आंतरिक मंत्री श्री शेख अब्‍दुल्‍लाह बिन नासेर बिन खलीफा अल थानी तथा कतर के ऊर्जा राज्‍य मंत्री श्री साद शेरीदाह अल काबी से भी भेंट करेंगे।


खेल मंत्री ने खिलाड़ियों को बधाई दी

नई दिल्ली। युवा मामलों और खेल राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री किरेन रिजिजू ने कल नई दिल्ली में भारतीय निशानेबाजी टीम के सदस्यों से मुलाकात की, जो हाल ही में रियो डी जनेरियो में संपन्न आईएसएसएफ राइफल और पिस्टल विश्व कप में हिस्सा लेकर लौटे हैं। उन्होंने निशानेबाजों को उनके शानदार प्रदर्शन के लिए बधाई दी। प्रतियोगिता में भारत ने पांच स्वर्ण, दो रजत और दो कांस्य पदक हासिल करके पदक तालिका में शीर्ष स्थान प्राप्त किया है।


श्री रिजिजू के साथ मुलाकात के दौरान उपस्थित निशानेबाजों में अपूर्वी चंदेला, अंजुम मौद्गिल, इलावेनिल वलारिवन, मनु भाकर, यशस्विनी देसवाल, संजीव राजपूत, अभिषेक वर्मा और दीपक कुमार शामिल थे। इस अवसर पर भारतीय राष्ट्रीय राइफल्स संघ के अध्यक्ष श्री रनिंदर सिंह और कोच जसपाल राणा, पावेल स्मिरनोव तथा ओलेग मिखाइलोव भी उपस्थित थे।निशानेबाजी में भारत का यह शानदार वर्ष रहा है। वर्ष 2019 में सभी आईएसएसएफ सीनियर विश्व कप में भारत ने 16 स्वर्ण, 4 रजत और 2 कांस्य पदक जीते हैं। इन 22 पदकों में से 12 व्यक्तिगत स्पर्धाओं में मिले हैं और 10 मिश्रित टीम स्पर्धाओं में। यह प्रतिस्पर्धाएं 10 मीटर एयर राइफल और 10 मीटर एयर पिस्टल की हैं। भारत ने अब तक टोक्यो 2020 ओलंपिक के लिए निशानेबाजी में नौ कोटा जीते हैं, जिसमें पुरुषों की 50 मीटर राइफल 3 पोजीशन में संजीव राजपूत और महिलाओं की 10 मीटर एयर पिस्टल में यशस्विनी देसवाल के साथ रियो विश्व कप में कोटा अर्जित किया है।


भारतीय निशानेबाजी टीम को बधाई देते हुए श्री रिजिजू ने कहा, 'निशानेबाजी में भारतीय दल ने शानदार प्रदर्शन किया है और हम एक मजबूत टीम टोक्यो ओलम्पिक्स में भेजेंगे। इस खेल से भारत को बहुत उम्मीदें हैं।


राष्ट्रपति के भाषणों पर आधारित किताब

नई दिल्ली। उपराष्ट्रपति श्री एम. वेंकैया नायडू ने सामाजिक बुराईयों पर चिंता व्यक्त करते हुए लोगों से अश्पृश्यता तथा लैंगिग भेदभाव जैसी सामाजिक बुराईयों को दूर करने में सक्रिय भूमिका निभाने का आह्वान किया है। उन्होंने कहा कि देश में उपलब्ध आसाधारण प्रतिभा, विचारों और नवाचारी क्षमताओं को एक साथ लाने की आवश्यकता है ताकि समावेशी और सतत विकास सुनिश्चित हो सके।


उपराष्ट्रपति नई दिल्ली के प्रवासी भारतीय केन्द्र में राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोविन्द के चुनिंदा भाषणों पर दो पुस्तकों 'द रिपब्लिकन एथिक' (खंड-2) तथा 'लोकतंत्र के स्वर'(खंड-2) का विमोचन कर रहे थे। उपराष्ट्रपति ने कहा कि भारत इतिहास के उस मोड़ पर खड़ा है जहां से वह प्रमुख चुनौतियों और बाधाओं का सामना करते हुए समावेशी विकास की दिशा में छलांग लगा सकता है।


उपराष्ट्रपति ने कहा कि सार्वजनिक जीवन में मूल्यों और नीतियों को बनाए रखना लोगों के लिए महत्वपूर्ण है। उन्होंने कहा कि इस बारे में राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोविन्द की और मेरी सोच एक समान है।
उपराष्ट्रपति ने कहा कि उन्होंने अनेक अवसर पर राष्ट्रपति के संबोधनों में राष्ट्र का सार, विज़न, महत्वकांक्षा, आशाओं और स्वभाव को देखा है। उनमें विचारों की स्पष्टता है, विश्लेषण करने की क्षमता है। माननीय राष्ट्रपति के सभी भाषणों में, चाहे वह राष्ट्र के नाम संबोधन हो या विदेश यात्राएं हो या शिक्षा की बात हो, सभी में तालमेल देखने को मिलता है।


श्री नायडू ने कहा कि राष्ट्रपति हमेशा हमें अन्नदाताओं यानी किसानों, वैज्ञानिकों, पेशेवर लोगों और बहादुर जवानों के योगदान की याद दिलाते हैं। उपराष्ट्रपति ने कहा कि राष्ट्रपति के भाषणों में बार-बार शिक्षा की बात होती है। उनके लिए शिक्षा सशक्तिकरण का माध्यम है। वह चाहते हैं कि हमारे विश्वविद्यालय नए भारत की दिशा में प्रगति का पावर हाउस बनें। वह वैज्ञानिक संस्थानों से आशावान रहते हैं। उपराष्ट्रपति ने कहा कि एक वकील के नाते राष्ट्रपति वकालत पेशे की शक्तियों और चुनौतियों के प्रति सचेत हैं। राष्ट्रपति संवैधानिक तौर-तरीकों से सामाजिक परिवर्तन में विश्वास रखते हैं।


राष्ट्रपति कोविन्द गरीब से गरीब लोगो को न्याय प्रदान करने में कानूनी पेशे की क्षमता पर बल देते हैं। उन्होंने कहा कि राष्ट्रपति अधिकारियों से उच्च स्तर के संकल्प की आशा रखते हैं, क्योंकि अधिकारी लोगों को लोकतांत्रिक संविधान के फल प्रदान करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। उन्होंने कहा कि श्री कोविन्द ने विभिन्न सेवाओं के सैकड़ों युवा अधिकारियों को सामाजिक न्याय प्रदान करने के लिए प्रेरित किया है। उपराष्ट्रपति ने कहा कि राष्ट्रपति के चुने हुए भाषणों की पुस्तकें उनकी ज्ञानधारा का संकलन हैं।देश की संप्रभुता की रक्षा के प्रति भारत के संकल्प पर पुस्तक से उद्धरण पेश करते हुए उपराष्ट्रपति ने कहा कि भारत ने हमेशा शांति और सहयोग के मूल्यों का पालन किया है। उन्होंने चेतावनी दी कि भारत पर आक्रमण करने वालों को माकूल जवाब दिया जाएगा। उपराष्ट्रपति ने राष्ट्रपति के भाषणों के संकलन को प्रकाशित करने के लिए सूचना और प्रसारण मंत्री श्री प्रकाश जावड़ेकर और उनकी टीम को बधाई दी।


इस अवसर पर पर्यावरण, वन तथा जलवायु परिवर्तन और सूचना एवं प्रसारण मंत्री श्री प्रकाश जावड़ेकर, सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्री श्री थावरचंद गहलोत, सूचना और प्रसारण सचिव श्री अमित खरे तथा प्रकाशन विभाग की प्रधान महानिदेशक श्रीमती साधना राउत तथा अन्य गणमान्य अतिथि उपस्थित थे।


मोदी दिव्यांग बच्चों के साथ मनाएंगे जन्मदिन

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अक्सर सादगी का संदेश देने की कोशिश करते हैं और हर जन्मदिन पर कुछ खास करते हैं। अब एक बार फिर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी खास तरीेके से जन्मदिन मनाने जा रहे हैं। 17 सितंबर को प्रधानमंत्री अपना 69वां जन्मदिन संसदीय क्षेत्र वाराणसी में दिव्यांग बच्चों के साथ मनाएंगे।प्रधानमंत्री के दौरे को देखते हुए वाराणसी प्रशासन पूरे शहर को चमकाने और सजाने में जुट गया है। जानकारी के मुताबिक प्रधानमंत्री के 69वें जन्मदिन के अवसर पर वाराणसी के 69 मंदिरों में भजन संध्या होगी, तो 69 स्थानों पर ही दीपदान किया जाएगा।पीएम मोदी के जन्मदिन के अवसर पर पूरे शहर में शंखनाद का भी इंतजाम किया गया है। हालांकि अभी पीएमओ की तरफ से प्रधानमंत्री का पूरा प्रोटोकॉल नहीं आया है। लेकिन प्रशासन के साथ-साथ पार्टी स्तर पर तैयारियां शुरू हो गई हैं।


चंद्र मिशन अभियान में 40 फीसदी नाकाम

कैलिफोर्निया। अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा के तथ्यों के मुताबिक पिछले छह दशक में शुरू किए गए चंद्र मिशन में सफलता का अनुपात 60 प्रतिशत रहा है। नासा के मुताबिक इस दौरान 109 चंद्र मिशन शुरू किए गए, जिसमें 61 सफल हुए और 48 असफल रहे। भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी इसरो द्वारा चंद्रमा की तहत पर चंद्रयान-2 के विक्रम लैंडर को उतराने का अभियान शनिवार को अपनी तय योजना के मुताबिक पूरा नहीं हो सका। लैंडर का अंतिम छणों में जमीनी स्टेशन से संपर्क टूट गया। इसरो के अधिकारियों के मुताबिक चंद्रयान-2 का ऑर्बिटर पूरी तरह सुरक्षित और सही है।


इस साल इजराइल ने भी फरवरी 2018 में चंद्र मिशन शुरू किया था, लेकिन यह अप्रैल में नष्ट हो गया। वर्ष 1958 से 2019 तक भारत के साथ ही अमेरिका, यूएसएसआर (रूस), जापान, यूरोपीय संघ, चीन और इजराइल ने विभिन्न चंद्र अभियानों को शुरू किया। पहले चंद्र अभियान की योजना अमेरिका ने 17 अगस्त, 1958 में बनाई, लेकिनपाइनियर 0 का लॉन्च असफल रहा। पहला सफल चंद्र अभियान चार जनवरी 1959 में यूएसएसआर का लूना 1 था। यह स‍फलता छठे चंद्र मिशन में मिली। एक साल से थोड़े अधिक समय के भीतर अगस्त 1958 से नवंबर 1959 के दौरान अमेरिका और यूएसएसआर ने 14 अभियान शुरू किए। इनमें से सिर्फ 3- लूना 1, लूना 2 और लूना 3 सफल हुए। ये सभी यूएसएसआर ने शुरू किए थे।


इसके बाद जुलाई 1964 में अमेरिका ने रेंजर 7 मिशन शुरू किया, जिसने पहली बार चंद्रमा की नजदीक से फोटो ली। रूस द्वारा जनवरी 1966 में शुरू किए गए लूना 9 मिशन ने पहली बार चंद्रमा की सतह को छुआ और इसके साथ ही पहली बार चंद्रमा की सतह से तस्वीर मिलीं। पांच महीने बाद मई 1966 में अमेरिका ने सफलतापूर्वक ऐसे ही एक मिशन सर्वेयर-1 को अंजाम दिया। अपोलो 11 अभियान एक लैंडमार्क मिशन था, जिसके जरिए इंसान के पहले कदम चांद पर पड़े। तीन सदस्यों वाले इस अभियान दल की अगुवाई नील आर्मस्ट्रांग ने की। वर्ष 1958 से 1979 तक केवल अमेरिका और यूएसएसआर ने ही चंद्र मिशन शुरू किए। इन 21 वर्षों में दोनों देशों ने 90 अभियान शुरू किए। इसके बाद जपान, यूरोपीय संघ, चीन, भारत और इस्राइल ने भी इस क्षेत्र में कदम रखा।


डीएम को अपशब्द, धमकी भरे मैसेज

शिवाकांत अवस्थी
रायबरेली। एक मामले को लेकर निस्तारण न होने के कारण से एक युवक लगातार जिलाधिकारी नेहा शर्मा के सीयूजी नंबर पर अपशब्द भरे मैसेज व फोन पर धमकी भरी बातें करने वाले युवक को आज पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। जांच बाद पता चला कि, युवक मानसिक रूप से बीमार चल रहा है जिसका इलाज भी चल रहा है।
आपको बता दें कि, जानकारी के मुताबिक पूरा मामला इस प्रकार है। मनोज कुमार निवासी केसरुवा थाना गुरबक्शगंज कई दिनों से जिलाधकारी नेहा शर्मा के सरकारी नंबर पर बार-बार फोन कर गलत तरीके से बात व मैसेज भेज कर धमकाने जैसी बात कर रहा था। जिसे जिलाधिकारी नेहा शर्मा द्वारा दफ्तर बुलाया गया था। दफ्तर पहुंचने पर उस युवक द्वारा अपनी बात कुछ अलग अंदाज में करने लगा। यही नहीं उसने अधिकारियों को भी रौब में लेने की कोशिश किया। जिसके चलते जिलाधिकारी नेहा शर्मा के निर्देश पर नगर कोतवाली पुलिस ने मौके पर आनन-फानन पहुंचकर उसे हिरासत में ले लिया। पुलिस की जांच में युवक मानसिक रूप से बीमार निकला। जिला अधिकारी नेहा शर्मा द्वारा तत्काल युवक को उचित उपचार के लिए कड़े निर्देश दिए गए है।


नकली नोट छापने वाले पांच गिरफ्तार

नई दिल्ली। आगरा में एसटीएफ ने शहीद नगर एकता पार्क से स्कैनर और प्रिंटर की मदद से स्टांप पेपर पर 100-100 के जाली नोट छापने वाले गिरोह के पांच सदस्यों को शुक्रवार सुबह गिरफ्तार किया है। ये लोग जाली करेंसी को शराब के ठेकों पर चलाते थे। पिछले डेढ़ साल से यह गोरखधंधा चल रहा था। गिरोह के पास से 100-100 के नकली नोट की 3.5 गड्डी (35000 रुपये), लैपटॉप, स्कैनर, प्रिंटर, मोबाइल बरामद किए गए हैं। नकली नोटों का यह कारखाना सदर बाजार के शहीद नगर की एकता कॉलोनी में चल रहा था। गिरफ्तार आरोपी कृष्णापुरी, कहरई मोड़, शमसाबाद रोड के शिवम तोमर और ओमकार झा, नया बांस रोड, शमसाबाद का अवधेश सविता, धिमश्री शमसाबाद का सुनील, मियांपुर ताजगंज का लाखन हैं। इन्होंने एकता कॉलोनी में मकान किराए पर ले रखा था।  ये शातिर 10 रुपये के स्टांप पेपर की कटिंग करके तीन नोट बनाते थे। इन पर बड़ी सफाई से सिल्वर थ्रेड लगाते थे।


मोईन के शतक ने सेमीफाइनल में पहुंचाया

होव। इंग्लैंड के ऑलराउंडर मोईन अली ने वाइटलिटी ब्लास्ट टी-20 टूर्नामेंट के तीसरे क्वार्टर फाइनल मुकाबले में बल्ले से धमाका कर अपनी टीम को सेमीफाइनल में पहुंचा दिया। शुक्रवार को ससेक्स और वार्सेस्टरशर के बीच खेले गए मुकाबले में उन्होंने 60 गेंद पर नाबाद 121 रन की तूफानी पारी खेली। इस दौरान उन्होंने  8 चौके और 11 गगनचुंबी छक्के जड़ दिए। मैच में वार्सेस्टरशर ने टॉस जीतकर पहले फील्डिंग का फैसला किया। फिलिफ साल्ट (72) और ल्युक राइट(28) ने ससेक्स के लिए शानदार अंदाज में पारी की शुरुआत करते हुए  8.5 ओवर में 84 रन जोड़ दिए। इसके बाद ल्युक राइट 28 रन की पारी खेलकर आउट हो गए। राइट के आउट होने के बाद लौरी इवांस ने साल्ट के साथ मिलकर टीम को 100 रन के पार पहुंचाया। लेकिन इसके बाद साल्ट 40 गेंद में 72 रन बनाकर आउट हो गए। 10.3 ओवर में 108 रन पर 2 विकेट गंवाने के बाद इवान्स एक छोर थामे रहे और दूसरे छोर से लगातार विकेट गिरते रहे। ऐसे में ससेक्स की टीम निर्धारित 20 ओवर में 184 रन का स्कोर खड़ा करने में सफल रही। इवांस 31 गेंद में 43 रन बनाकर नाबाद रहे।


इसके बाद जीत के लिए 185 रन के लक्ष्य का पीछा करने उतरी वार्सेस्टरशर पहले ओवर की तीसरी गेंद पर जो लीच का विकेट गंवा दिया। वो केवल 1 रन बना सके। इसके बाद बल्लेबाजी करने मोईन अली उतरे। उन्होंने रिकी वेसल्स के साथ मोर्चा संभालकर मैदान में चौकों छक्कों की बारिश कर दी। दूसरे विकेट के लिए वेसल्स और मोईन अली के बीच 177 रन की साझेदारी हुई। जीत से ठीक पहले वो आउट हो गए और मोईन अली ने एक गेंद बाद ही जीत की औपचारिकता पूरी कर दी। अली ने विरोधी गेंदबाजों को कोई मौका नहीं दिया और 14 गेंद और 8 विकेट शेष रहते अपनी टीम को सेमीफाइनल में जगह दिला दी। अपनी 121 रन की पारी में से 98 रन उन्होंने चौकों और छक्कों की मदद से बनाए।


पाक ने तोड़ा सीजफायर चार लोग घायल

जम्मू-कश्मीर। पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान द्वारा एक फिर संघर्ष विराम उल्लघंन किया गया है। न्यूज एजेंसी के मुताबिक, पाकिस्तान ने जम्मू-कश्मीर के पूंछ जिले के कृष्णाघाटी सेक्टर में संघर्ष विराम का उल्लंघन किया है। हालांकि, भारतीय सेना ने भी पाकिस्तान को मुंहतोड़ जवाब देते हुए जवाबी कार्रवाई की है।


इधर सोपोर के दंगेरपोरा में आतंकियों के हमले में एक नाबालिग लड़की सहित चार लोगों के घायल होने की खबर सामने आ रही है।सभी घायलों को पास के अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती करवाया गया है और उनकी स्थिति अब खतरे से बाहर बताई जा रही है। जानकारी के मुताबिक हमले के बाद आतंकवादी भागने में कामयाब हो गए। कश्मीर जोन की पुलिस ने कहा कि आतंकवादियों ने गोलीबारी शुरू की जिसमें एक बच्ची समेत चार लोग घायल हो गए। घटनास्थल पर सुरक्षाबल और पुलिस तैनात हैं और जांच प्रक्रिया की जा रही है।


संचालक उड़ा रहे आदेशों की धज्जियां

सहारनपुर चिलकाना ग्राम गुमटी मुरादपुर फिरोजाबाद रोड पर जामिया मोहम्मदिया मदरसा जिसके संचालक सरकार के आदेशों की उड़ा रहे हैं धज्जियां जिनके विरुद्ध अल्पसंख्यक एवं जिला वक्फ बोर्ड ने कसा शिकंजा



सहारनपुर। थाना चिलकाना के गांव गुमटी मलकपुर चल रहे जामिया मोहम्मदिया मदरसा जिसके संचालक मो.अकरम कासमी निवासी भोजपुर तला तहसील सदर थाना चिलकाना के द्वारा मदरसे  के नाम से रसीदें काटकर चंदा इकट्ठा किया जाता है। उक्त मदरसे में यतीम बच्चे पढ़ना,उक्त मदरसे में 3 टीचर पढ़ाते है। उक्त मदरसे की कमेटी 11 सदस्य की होना दर्शाया गया। परंतु उक्त मदरसे में 15 अगस्त 2019 में सरकार के आदेशों के बावजूद नहीं लहराया गया तिरंगा। जिसके विरुद्ध जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी एवं वक्फ बोर्ड ने लिया संज्ञान अल्पसंख्यक एवं जिला वक्फ बोर्ड ने उक्त मदरसे पर कसा अपना शिकंजा।


सहारनपुर इंस्पेक्टर वक्फ बोर्ड ने बताया कि उक्त मदरसे के संबंध में गंभीरता से जांच की जा रही है। आपको बता दें कि उप्र सरकार द्वारा दिए गए निर्देशों व मदरसा बोर्ड कमेटी केअध्यक्ष द्वारा अपने आदेशों में स्पष्ट किया गया कि मदरसों में 15अगस्त को राष्ट्रीगान अनिवार्य किया गया है। राज्य के सभी मदरसों में 15 अगस्त को धवरारोहण किया जाए। इस दौरान राष्ट्रीगीत और राष्ट्रीगान को अनिवार्य रूप से गाया जाए। आदेशों में कहा गया है कि इसकी  वीडियो कवरेज भी कराई जाए।
रिपोर्ट:हाकिम अली, ब्यूरो चीफ


पुलिस महानिदेशक ने दिए सख्त निर्देश

उत्तर प्रदेश पुलिस महानिदेशक ने समस्त वरिष्ठ पुलिस अधीक्षकों को सख्त निर्देशन 

लखनऊ। उत्तर प्रदेश पुलिस महानिदेशक ओपी सिंह के पास सूूचना मे पुलिस व यातायात कर्मियों द्वारा नियमो का उल्लंघन किये जाने का वीडियो सोशल मिडिया पर वायरल होने के बाद डीजीपी ने उत्तर प्रदेश में पदस्थ समस्त जिला के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक को आदेशित किया कि जो प्राधिकारी यातायात नियमो का पालन सुनिश्चित कराने की जिम्मेदारी से अधिकृत है। अगर पुलिस यातायात उल्लंघन के अपराध का दोषी पाया जाता है। तो उसपर इस अधिनियम के तहत लगने वाले जुर्माने का दो गुना भरना होगा।
उन्होंने स्पष्ट शब्दों  में कहा कि पुलिस कर्मी यातायात नियमो का उल्लंघन करते पाया गया तो उसे तय जुर्माने का दो गुना भरना होगा। एक सितम्बर से मोटरयान अधिनियम 2019 लागू होने के बाद जुर्माने की दरों में काफी इजाफा हुआ है।इसके साथ ही सख्ती के साथ पालन कराने की मुहिम चलाई जा रही हैं। ऐसे में कई पुलिस व यातायात कर्मियों द्वारा नियमो का उल्लंघन किये जाने का वीडियो शोषल मीडिया पर बायरल होने के बाद उन्होंने सख्त निर्देशन जारी किये है। उमेश शर्मा


खाते में पैसा जमा करने पर लगेगा चार्ज

नई दिल्ली। भारतीय स्टेट बैंक के सर्कुलर के अनुसार एक अक्तूबर से आप अक महीने में केवल तीन बार मुफ्त में पैसे जमा करवा सकते हैं। इसके बाद यदि आपने अपने खाते में 100 रुपये भी जमा किए तो आपको 50 रुपये (जीएसटी अतिरिक्त) का चार्ज देना पड़ेगा। पांचवी या उसके बाद यदि आपने एक रुपये भी जमा किए तो आपको 56 रुपये का चार्ज देना होगा। एक अक्तूबर से भारतीय स्टेट बैंक अपने बैंक चार्ज और ट्रांजेक्शन को लेकर के कई नियमों में परिवर्तन कर दिया है। बैंक एक अक्तूबर से अपने सर्विस चार्ज में बदलाव करने वाला है। जिसमें बैंक में रुपये जमा करना, निकालना, चेक का इस्तेमाल, एटीएम ट्रांजेक्शन से जुड़े सर्विस चार्ज शामिल हैं। यदि चेक किसी कारण से बाउंस हो जाता है तो चेक जारी करने वाले पर 150 रुपये और जीएसटी का अतिरिक्त भुगतान करना होगा। जीएसटी मिलाकर यह चार्ज 168 रुपये होगा। नए नियमों के मुताबिक जहां एक तरफ बैंक के एटीएम से होने वाले ट्रांजेक्शन की संख्या में इजाफा कर दिया है। वहीं बैंक शाखा में जाकर के एनईएफटी और आरटीजीएस करना महंगा हो जाएगा। बैंक ने सर्कुलर जारी करते हुए कहा है कि देश के छह मेट्रो शहरों मुंबई, दिल्ली, चेन्नई, कोलकाता, बंगलूरू और हैदराबाद में बैंक के एटीएम पर लोग हर महीने 10 ट्रांजेक्शन कर सकेंगे। वहीं अन्य शहरों में मौजूद एसबीआई के एटीएम पर 12 ट्रांजेक्शन कर सकेंगे।


अगर कोई व्यक्ति दूसरे बैंक के एटीएम का प्रयोग करता है तो फिर उसको महीने में पांच ट्रांजेक्शन करने की सुविधा मिलेगी। 25 हजार रुपये से ऊपर मिनिमम एवरेज बैलेंस रखने वालों को बैंक एटीएम का प्रयोग असीमित किया जाएगा। वहीं इससे नीचे का एवरेज बैलेंस रखने वालों को पुराने नियम के अनुसार आठ मुफ्त ट्रांजेक्शन ही करने को मिलेंगे। सैलरी खाताधारकों को देश के किसी भी बैंक और एसबीआई का एटीएम प्रयोग करने पर किसी तरह का चार्ज नहीं देना पड़ेगा। यह खाताधारक असीमित ट्रांजेक्शन कर सकेंगे। अगर कोई व्यक्ति बैंक शाखा में जाकर के आरटीजीएस या फिर एनईएफटी करता है तो फिर उसको चार्ज देना होगा। हालांकि नेटबैंकिंग, मोबाइल बैंकिंग या फिर योनो एप से किए जाने वाले ऐसे ट्रांजेक्शन पर कोई चार्ज नहीं लगेगा।


भारत-नाइजीरिया संबंधों की 60वीं जयंती

मुबंई। भारतीय नौसेना का जहाज तरकश अपनी तीन दिवसीय यात्रा के लिए आज लागोस, नाइजीरिया के बंदरगाह पहुंचा। इस यात्रा का आयोजन भारत और नाइजीरिया में राजनयिक संबंधों की स्‍थापना की 60वीं जयंती का समारोह मनाने के लिए किया गया है। कैप्‍टन सतीश वासुदेव की कमान वाला आईएनएस तरकश भारतीय नौसेना के सबसे शक्तिशाली फ्रंटलाइन फ्रिगेट्स में से एक है। यह जहाज हथियारों, सेंसरों की बहुमुखी रेंज से लैस है। यह जहाज भारतीय नौसेना के पश्चिमी बेड़े का हिस्‍सा है और मुंबई स्थित फ्लैग ऑफिसर, कमांडिंग इन चीफ, पश्चिमी नौसेना कमान की परिचालन कमान के अधीन है।
इस जहाज को देखने के लिए अनेक गणमान्‍य व्‍यक्ति और नाइजीरिया के सरकारी अधिकारी आएंगे। दोनों देशों के बीच सहयोग को और गति देने के लिए नाइजीरिया के नौसेना अधिकारियों के साथ पेशेवर बातचीत की योजना है। इसके अलावा दोनों नौसेनाओं के बीच सामाजिक गतिविधियों और खेलों का आयोजन भी किया जायेगा। नाइजीरिया के लोगों के लिए चिकित्‍सा कैंप का भी आयोजन किया जायेगा। तरकश 08 सितम्‍बर, 2019 को एनएनएस यूनिटी के साथ समुद्र में पैसेज एक्‍सरसाइज का आयोजन करेगा जिससे दोनों नौसेनाओं के बीच अंतरसक्रियता को बढ़ावा मिलेगा।भारत और नाइजीरिया के बीच परंपरागत रूप से घनिष्‍ठ और मैत्रीपूर्ण संबंध हैं। दोनों देश लोकतंत्र, विकास और धर्मनिरपेक्षता के मूल्‍यों को साझा करते हैं। रक्षा सहयोग और सांस्‍कृतिक आदान-प्रदान के लिए दोनों देशों में अनेक द्विपक्षीय प्रबंध मौजूद हैं। भारतीय सशस्‍त्र बल नाइजीरिया के सशस्‍त्र बलों के लिए भारत में विभिन्‍न प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित करते हैं। नाइजीरिया के राष्‍ट्रपति श्री मोहम्‍मद गुहारी भी डिफेंस सर्विसेज का स्‍टॉफ कॉलेज वेलिंगटन के पूर्व छात्र हैं। भारतीय नौसेना मैत्रीपूर्ण संबंध स्‍थापित करने और मैत्रीपूर्ण देशों के साथ अंतर्राष्‍ट्रीय सहयोग को मजबूत बनाने के लिए अपने मिशन के एक हिस्‍से के रूप में भारतीय नौसेना के जहाजों को नियमित रूप से विदेशों में तैनात करती है।


सही भोजन, बेहतर जीवन: हर्षवर्धन

नई दिल्ली। भारतीय खाद्य संरक्षा एवं मानक प्राधिकरण (एफएसएसएआई) के इट राइट इंडिया मूवमेंट की शुरुआत करते हुए केन्‍द्रीय स्‍वास्‍थ्‍य एवं परिवार कल्‍याण मंत्री डॉ. हर्ष वर्धन ने 'इट राइट, स्‍टे फिट, तभी इंडिया सुपर फिट' का नारा दिया। भोजन और फिटनेस के माध्‍यम से नागरिकों को केंद्र में रखते हुए। एक स्‍वास्‍थ्‍य आंदोलन के रूप में यह स्‍वस्‍थ खान-पान की एक नई पहल है। पांच दिनों तक आयोजित 'दक्षिण-पूर्व एशिया के लिए विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन क्षेत्रीय समिति के 72वें अधिवेशन' के साथ-साथ आज नई दिल्‍ली में एक कार्यक्रम में स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री ने नई लोगो और टैगलाइन 'सही भोजन, बेहतर जीवन' जारी करके 'इट राइट इंडिया' नामक अभियान शुरू किया। स्‍वास्‍थ्‍य एवं परिवार कल्‍याण मंत्रालय में सचिव श्रीमती प्रीति सूदन, विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन दक्षिण-पूर्व एशिया क्षेत्र की क्षेत्रीय निदेशक डॉ. पूनम क्षेत्रपाल सिंह, एफएसएसएआई की अध्‍यक्ष सुश्री रीता तेवतिया और एफएसएसएआई के मुख्‍य कार्यकारी अधिकारी श्री पवन अग्रवाल भी कार्यक्रम में उपस्थित थे।
 डॉ. हर्ष वर्धन ने कहा कि समाचार माध्‍यमों, खाद्य उत्‍पादकों, उपभोक्‍ताओं और अन्‍य हितधारकों के साथ-साथ समाज के सभी हिस्‍सों के सक्रिय समर्थन और भागीदारी से यह एक देशव्‍यापी आंदोलन बन सकता है। पोषण के ईद-गिर्द मुद्दे पर एक जन आंदोलन के महत्‍व के बारे में चर्चा करते हुए, डॉ. हर्ष वर्धन ने कहा कि यह प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी के दृष्टिकोण का एक हिस्‍सा है। पूरे देश में सितंबर माह को 'पोषण माह' के रूप में मनाया जा रहा है। स्‍वस्‍थ भोजन के प्रति लोगों को संवेदनशील बनाना, जनसंख्‍या के कुछ हिस्‍से में कुपोषण,अल्‍प पोषण और मोटापे की समस्‍या का समाधान करना तथा कुपोषण-मुक्‍त भारत के लिए एक जोरदार अभियान चलाना इसका उद्देश्‍य है। डॉ. हर्ष वर्धन ने कहा कि इस आंदोलन का लक्ष्‍य पोषण अभियान, आयुष्‍मान भारत योजना और स्‍वच्‍छ भारत अभियान जैसे सरकार के फ्लैगशिप  जन स्‍वास्‍थ्‍य कार्यक्रमों के बल पर एक नये भारत का निर्माण करना है, जिसे हमारे प्रधानमंत्री 2022 तक सभी नागरिकों के लिए पूरा करना चाहते हैं।
विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन दक्षिण-पूर्व एशिया क्षेत्र की क्षेत्रीय निदेशक डॉ. पूनम क्षेत्रपाल सिंह ने भी कार्यक्रम को संबोधित किया। कार्यक्रम में डॉ. हर्ष वर्धन ने इट राइट इंडिया का नया लोगो भी जारी किया।


रुकावटो से हम रुकने वाले नहीं: मोदी

मुबंई। मुंबई में तीन मेट्रो लाइनों के शिलान्यास समारोह के अवसर पर पीएम मोदी जनता को संबोधित कर रहे हैं। पीएम मोदी ने कहा- एक रुकावट आज हमने देखी है लेकिन इसरो के वैज्ञानिक तब तक नहीं रुकेंगे जब तक मंजिल तक नहीं पहुंच जाते। चांद पर पहुंचने का सपना पूरा होकर रहेगा, हमारे देश में पहली मेट्रो 30-35 साल पहले शुरू हुई थी। इसके बाद 2014 तक कुछ ही शहरों में मेट्रो चल पाई। आज 27 शहरों में मेट्रो या तो शुरू हो चुकी है या शुरू होने वाली है।


प्रधानमंत्री ने मुंबई में मेट्रो परियोजनाओं की आधारशिला रखने के बादे लोगों को संबोधित किया और इसरो के वैज्ञानिकों की सराहना की। उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र के लोगों की सादगी और स्नेह मुझे हमेशा अभीभूत कर देता है। चुनाव प्रचार के दौरान महाराष्ट्र के अनेक शहरों में गया, आप लोगों से बात की. मुंबई में तो, जो रात में सभा हुई थी, उसकी चर्चा कई दिनों तक की गई थी। इस स्नेह के लिए, इस आशीर्वाद के लिए मैं आपका बहुत-बहुत आभारी हूं।


उन्होंने कहा कि सबसे ऊंचे स्तर पर वो लोग पहुंचते हैं जो लगातार रुकावट के बावजूद, बड़ी से बड़ी चुनौतियों के बावजूद, निरंतर प्रयास करते रहते हैं और अपने लक्ष्य को प्राप्त करके ही दम लेते हैं।


शारीरिक कष्ट से बाधा संभव है:कुंभ

राशिफल


मेष-शारीरिक कष्ट से बाधा उत्पन्न हो सकती है। कीमती वस्तुएं संभालकर रखें। अप्रत्याशित खर्च सामने आएंगे। कर्ज लेना पड़ सकता है। किसी व्यक्ति से अकारण विवाद हो सकता है। किसी कार्य को करने से प्रशंसा मिलेगी। व्यवसाय ठीक चलेगा।


वृष-लाभ में वृद्धि होगी। जोखिम उठाने का साहस कर पाएंगे। नई योजना बनेगी। कार्यप्रणाली में सुधार होगा। बकाया वसूली के प्रयास सफल रहेंगे। पारिवारिक चिंता रहेगी। फालतू खर्च होगा। व्यावसायिक यात्रा लंबी हो सकती है। लाभ होगा।


मिथुन-आर्थिक उन्नति के लिए नई योजना बनेगी। कार्यप्रणाली में सुधार होगा। व्यावसायिक यात्रा सफल रहेगी। व्यापार-व्यवसाय में मुनाफा बढ़ेगा। काफी समय से रुका हुआ कार्य पूर्ण हो सकता है। भाग्य का साथ मिलेगा। व्यस्तता रहेगी। प्रमाद न करें।


कर्क-नए मित्र बनेंगे। पूजा-पाठ में मन लगेगा। शत्रु सक्रिय रहेंगे। वाणी पर नियंत्रण रखें। सामंजस्य बनाकर रखें। कोर्ट व कचहरी आदि में विजय मिलेगी। कारोबार लाभदायक रहेगा। नौकरी में अधिकारी प्रसन्न रहेंगे। घर-बाहर प्रसन्नता रहेगी। जोखिम न लें।


सिंह-बेचैनी रहेगी। अज्ञात भय सताएगा। वाहन व मशीनरी के प्रयोग में लापरवाही न करें। एकाग्रता की कमी होगी। स्वास्थ्य का पाया कमजोर रहेगा। अकारण विवाद की स्थिति उत्पन्न हो सकती है। व्यापार-व्यवसाय ठीक चलेगा। आय बनी रहेगी।


कन्या-शत्रु पस्त होंगे। कोर्ट व कचहरी के कार्य मनोनुकूल रहेंगे। जीवनसाथी से सहयोग प्राप्त होगा। धन प्राप्ति सुगम होगी। लाभ के अवसर हाथ आएंगे। पारिवारिक सुख-शांति बनी रहेगी। शत्रु सक्रिय रहेंगे। नजरअंदाज न करें। चोट व रोग से बचें। भाग्य का साथ मिलेगा।


तुला-किसी व्यक्ति से बहस हो सकती है। पारिवारिक चिंता बनी रहेगी। स्थायी संपत्ति के कार्य बड़ा लाभ दे सकते हैं। रोजगार में वृद्धि होगी। कारोबार से लाभ बढ़ेगा। नौकरी में उच्चाधिकारी प्रसन्न रहेंगे। धनहानि संभव है। प्रमाद न करें।


वृश्चिक-शारी‍रिक कष्ट के योग हैं, सावधानी बरतें। लेन-देन में जल्दबाजी न करें। चिंता तथा तनाव रहेंगे। किसी आनंदोत्सव में भाग लेने का अवसर प्राप्त होगा। विद्यार्थी अपने कार्य एकाग्रता से कर पाएंगे। अध्ययन में मन लगेगा। यात्रा मनोरंजक हो सकती है।


धनु-ऐश्वर्य के साधनों पर खर्च होगा। दूर से दु:खद समाचार प्राप्त हो सकता है। विवाद से क्लेश हो सकता है। पुराना रोग उभर सकता है। झंझटों में न पड़ें। महत्वपूर्ण निर्णय टालें। व्यापार-व्यवसाय ठीक चलेगा। आय बनी रहेगी। जल्दबाजी न करें।


मकर-विवाह के उम्मीदवारों को वैवाहिक प्रस्ताव मिल सकता है। खुशी का वातावरण निर्मित होगा। जल्दबाजी न करें। पूर्व में किए गए प्रयासों का फल अब मिल सकता है। जोखिम उठाने का साहस कर पाएंगे। धनार्जन होगा। व्यस्तता बनी रहेगी।


कुंभ-शारीरिक कष्ट से बाधा संभव है। मनोरंजन का मौका मिलेगा। शुभ समाचार प्राप्त होंगे। घर में अतिथियों का आगमन होगा। व्यय होगा। विवाद से बचें। आत्मविश्वास में वृद्धि होगी। घर-बाहर सुख-शांति बनी रहेगी। नए मित्र बन सकते हैं।


मीन-राजभय रहेगा। किसी भी प्रकार की बहस का हिस्सा न बनें, बात बिगड़ सकती है। जल्दबाजी व लापरवाही न करें। बेरोजगारी दूर करने के प्रयास सफल रहेंगे। व्यावसायिक यात्रा सफल रहेगी। अप्रत्याशित लाभ के योग हैं। चोट व रोग से बचें। जोखिम न लें।


'बाघ' के सफेद होने का कारण

सफ़ेद बाघ (व्हाइट टाइगर) एक ऐसा बाघ है जिसका प्रतिसारी पित्रैक (रिसेसिव पित्रैक) इसे हल्का रंग प्रदान करता है। एक अन्य आनुवंशिक अभिलक्षण बाघ की धारियों को बहुत हल्का रंग प्रदान करता है। इस प्रकार के सफ़ेद बाघ को बर्फ-सा सफ़ेद या "शुद्ध सफे़द" कहते हैं। सफ़ेद बाघ विवर्ण नहीं होते हैं और इनकी कोई अलग उप-प्रजाति नहीं है और इनका संयोग नारंगी रंग के बाघों के साथ हो सकता है। हालांकि (लगभग) इस संयोग के परिणामस्वरूप जन्म ग्रहण करने वाले शावकों में से आधे शावक प्रतिसारी सफ़ेद पित्रैक की वजह से विषमयुग्मजी हो सकते हैं और इनके रोएं नारंगी रंग के हो सकते हैं। इसमें एकमात्र अपवाद तभी संभव है जब खुद नारंगी रंग वाले माता-पिता पहले से ही एक विषमयुग्मजी बाघ हो, जिससे प्रत्येक शावक को या तो दोहरा प्रतिसारी सफ़ेद या विषमयुग्मजी नारंगी रंग के होने का 50 प्रतिशत अवसर मिलेगा! अगर दो विषमयुग्मजी बाघों या विषमयुग्मजों का संयोग होता है तो उनसे जन्मे शावकों में से 25 प्रतिशत शावक सफ़ेद, 50 प्रतिशत विषमयुग्मजी नारंगी (सफ़ेद पित्रैक वाहक) और 25 प्रतिशत सफ़ेद पित्रैक विहीन समयुग्मजी नारंगी रंग के होंगे! 1970 के दशक में शशि और रवि नामक नारंगी रंग के विषमयुग्मजी बाघों की एक जोड़ी ने अलीपुर चिड़ियाघर में 13 शावकों को जन्म दिया जिसमें से 3 सफ़ेद रंग के थे। अगर दो सफ़ेद बाघों का संयोग कराया जाता है तो उनके सभी शावक समयुग्मजी और सफ़ेद रंग के होंगे! सफ़ेद पित्रैक वाला एक समयुग्मजी बाघ कई विभिन्न पित्रैकों की वजह से विषमयुग्मजी या समयुग्मजी भी हो सकता है। एक बाघ विषमयुग्मजी (विषमयुग्मज) है या समयुग्मजी (समयुग्मज), यह इस बात पर निर्भर करता है कि किस पित्रैक पर चर्चा की जा रही है। अन्तःसंयोग समयुग्मता को बढ़ावा देता है जिसका इस्तेमाल सफ़ेद बाघ पैदा करने में किया जाता है।


पेयजल की उपलब्धता एवं संदूषण

दुनिया के ज्यादातर हिस्सों में अपरिष्कृत पानी के प्रदूषण का सबसे आम स्रोत मानव मल (नालों से बहने वाला गंदा पानी) और विशेष रूप से मल संबंधी रोगाणु और परजीवी हैं। वर्ष 2006 में जलजनित रोगों से प्रति वर्ष 1.8 मिलियन लोगों के मारे जाने का अनुमान था जबकि लगभग 1.1 मिलियन लोगों के पास उपयुक्त पीने के पानी का अभाव था। यह स्पष्ट है कि दुनिया के विकासशील देशों में पर्याप्त मात्रा में अच्छी गुणवत्ता के पानी, जल शुद्धीकरण तकनीक और पानी की उपलब्धता एवं वितरण प्रणालियों तक लोगों की पहुंच होना आवश्यक है। दुनिया के कई हिस्सों में पानी का एकमात्र स्रोत छोटी जलधाराएं हैं जो अक्सर नालों की गंदगी से सीधे तौर पर संदूषित होती हैं।


अधिकांश पानी को उपयोग करने से पहले किसी प्रकार से उपचारित करने की आवश्यकता होती है, यहां तक कि गहरे कुओं या झरनों के पानी को भी उपचार की सीमा पानी के स्रोत पर निर्भर करती है। जल उपचार के उचित तकनीकी विकल्पों में उपयोग के स्थान (पीओयू) पर सामुदायिक और घरेलू दोनों स्तर के डिजाइन शामिल हैं। कुछ बड़े शहरी क्षेत्रों जैसे क्राइस्टचर्च, न्यूजीलैंड को पर्याप्त मात्रा में पर्याप्त रूप से शुद्ध पानी उपलब्ध है जहां अपरिष्कृत पानी को उपचारित करने की कोई आवश्यकता नहीं होती है।


पिछले दशक के दौरान जलजनित रोगों को कम करने में पीओयू उपायों की सफलता सुनिश्चित करने के लिए एक बढ़ती हुई संख्या में क्षेत्र के आधार पर अध्ययन किये गए। बीमारी को कम करने में पीओयू विकल्पों की क्षमता समुचित रूप से प्रयोग किये जाने पर सूक्ष्म रोगाणुओं को हटाने की उनकी क्षमता और उपयोग में आसानी एवं सांस्कृतिक औचित्य जैसे सामाजिक कारकों दोनों की एक कार्यप्रणाली है। तकनीकें अपनी प्रयोगशाला-आधारित सूक्ष्मजीव पृथक्करण क्षमता के प्रयोग की तुलना में ज्यादातर (या कुछ हद तक) स्वास्थ्य लाभ उत्पन्न कर सकती हैं।


पीओयू उपचार के मौजूदा समर्थकों की प्राथमिकता एक स्थायी आधार पर एक बड़ी संख्या में कम आय वर्ग के परिवारों तक पहुंचने की है। इस प्रकार पीओयू उपाय एक महत्वपूर्ण स्तर तक पहुंच गए हैं लेकिन इन उत्पादों का प्रचार-प्रसार और वितरण दुनिया भर के गरीबों के बीच किये जाने के प्रयास केवल कुछ ही वर्षों से चल रहे हैं।


आपात स्थितियों में जब पारंपरिक उपचार प्रणालियां काम नहीं करती हैं, जल जनित रोगाणुओं को को उबालकर मारा या निष्क्रिय किया जा सकता है लेकिन इसके लिए प्रचुर मात्रा में इस ईंधन के स्रोतों की आवश्यकता होती है और ये उपभोक्ताओं पर भारी दबाव दाल सकते हैं, विशेष रूप से जहां स्टेराइल स्थितियों में उबले हुए पानी का भंडारण करना मुश्किल होता है और जो कुछ सन्निहित परजीवियों जैसे कि क्रिप्टोस्पोरीडम या बैक्टेरियम क्लोस्ट्रीडियम को मारने का एक विश्वसनीय तरीका नहीं है। अन्य तकनीकों जैसे कि निस्पंदन (फिल्टरेशन), रासायनिक कीटाणुशोधन और पराबैंगनी विकिरण (सौर यूवी) सहित में रखने को कम आय वर्ग के देशों के उपयोगकर्ताओं के बीच जल-जनित रोगों के स्तर को काफी हद तक कम करने के लिए एक अनियमित नियंत्रण की श्रृंखला के रूप में देखा गया है।


पीने के पानी की गुणवत्ता के मानदंड आम तौर पर दो श्रेणियों के तहत आते हैं: रासायनिक,भौतिक और सूक्ष्म जीवविज्ञानी। रासायनिक,भौतिक मानदंडों में भारी धातु, कार्बनिक यौगिकों का पता लगाना, पूर्ण रूप से मिले हुए ठोस पदार्थ (टीएसएस) और टर्बिडिटी (गंदलापन) शामिल हैं। सूक्ष्म जीवविज्ञानी मापदंडों में शामिल हैं। कैलिफॉर्म बैक्टीरिया, ई. कोलाई और जीवाणु की विशिष्ट रोगजनक प्रजातियां (जैसे कि हैजा-उत्पन्न करने वाली विब्रियो कॉलेरा), वायरस और प्रोटोज़ोअन परजीवी।


यमाचार्य नचिकेता वार्ता (धर्मवाद)

मुनिवरो, हम पूर्व की भांति आपके समक्ष कुछ मनोहर वेद मंत्रों का गुणगान गाते चले जा रहे हैं। तुम्हें भी प्रतीत हो गया होगा। आज हमने पूर्व से जिन वेद मंत्रों का पठन-पाठन किया। हमारे यहां परंपरागत उससे ही उस मनोहर वेद वाणी का प्रसार होता रहता है। जिस पवित्र वेद वाणी में उस मेरे देव परमपिता परमात्मा की प्रतिभा का वर्णन किया जाता है। क्योंकि वह परमपिता परमात्मा महान और प्रतिभाशाली कहलाया जाता है। उसीकी चेतना से ही यह जगत चैतन्य हो रहा है। जितना भी है जडवत संसार है अथवा चेतन जगत है। उनको क्रिया में लाने वाला है अथवा क्रियाशील बना रहता है। एक मनोनीत चेतना के लाई जाती है। उसी की चेतना में यह सर्वत्र ब्रह्मांड क्रियाशील दृष्टिपात आ रहा है। आज का हमारा वेद का ऋषि हमें यह कह रहा है कि यह नाना प्रकार की प्रेरणा दे रहा है और यह कह रहा है। हे मानव,तू अपने जीवन को उधरवागति में ले जाने का प्रयास कर। उधरवागति में कौन जाता है? उधरवागती हम किसे कहते हैं? हमारे आचार्यों ने यह माना है कि सर्वत्र इंद्रियों में उस परमपिता परमात्मा की प्रतिभा का ही वर्णन होता रहता है। अथवा उसी महान, उसकी महानता निहित रहती है। हमारी प्रत्येक इंद्रियों में धर्म और मानवता समाहित रहती है। हमें विचारना चाहिए कि मानव का धर्म और मानवता दोनों का कितना घनिष्ठ संबंध है? क्योंकि धर्म उसे कहा जाता है जिसको मानव अपने में धारण कर लेता है और धर्म उसे कहते हैं जो धर्म मानव इंद्रियों में समाहित रहता है। वह धर्म नहीं कहा जाता, वह स्वत ही उसमें निहित रहता है। प्रत्येक इंद्रिया धर्म के सूत्र में पिरोई हुई रहती है। इस सूत्र को धारण करने के पश्चात मानव का जीवन धन्य हो जाता है।वह जो धर्म है मुनवरो 'इंद्रिया वृहे व्रत्‌ लोकामं' धर्म रूपी सूत्र में संसार पिरोया हुआ है ।यहां नाना लोक लोकांतर पिरोए हुए रहते हैं। परंतु आज हमें धर्म को जानना है। मैंने धर्म के संबंध में बहुत सी विवेचना पुरातन काल में प्रकट करते हुए कहा है कि मानव को वास्तव में धर्म को जानना चाहिए। क्योंकि धर्म एक सूत्र है जिस सूत्र में प्रत्येक परमाणु पिरोया हुआ है। लोक-लोकांतर पिराया हुआ है और वह ॠत और सत में भ्रमण करता हुआ मानव को उज्जवलता प्रकट करता रहता है। उज्जवल बनाता रहता है। मुझे वह काल स्‍मरण आता रहता है जिस काल में याज्ञवल्‍क्‍य मुनि महाराज अपने आश्रम में विद्यमान रहते थे। ब्रह्मचारीओं के मध्य में विराजमान होकर के कर्मचारियों से उच्चारण कर रहे थे। हे ब्रह्मचरयो, धर्म के ऊपर निरंतर चिंतन करना प्रारंभ करेंगे। वह काल स्‍मरणन आने लगता है तो हृदय गदगद हो जाता है। मेरी याज्ञवल्‍क्‍य मुनि महाराज के आश्रम में नाना ब्रह्मचारी प्रातः कालीन नाना समाधियों को लेकर आचार्यों के चरणों में ओत-पौत हो गए और ऋषि से कहते हैं 
।महाराज ,हम यज्ञ करना चाहते हैं ब्रह्मचारी जब कहते हैं कि यज्ञ करना चाहते हैं तो ऋषि कहते हैं। यज्ञ किससे कर रहे हो ।उन्होंने कहा कि अब मैं समाधी के द्वारा यज्ञ कर रहा हूं। समिधा किसे कहते हैं। समिधा उसे कहते हैं जो अग्नि को चैतन्य कर देती है। परंतु अग्नि कैसे होती है यह समाधिओ के द्वारा होती रहती है। और समिधा जब अग्नि में प्रवेश कर जाती है तो अग्नि उदिप्‍त हो जाती है। इसी प्रकार यहां समिधा जहां काष्ट की समिधा होती है ।जहां वृक्ष की समिधा होती है। मुनिवरो, देखो मानव के शरीर में जो यज्ञ होता है। उसकी समिधा क्या है? ब्रह्मचारी, ऋषि याज्ञवल्क्य मुनि महाराज कहते हैं हे ब्रह्मचारयो, तुम्हारे हृदय में जो अग्नि प्रदीप्त हो रही है। उसकी समिधा क्या है। उसका वजस्‍व कौन है, उसका उदबुद करने वाला कौन है? वेद के ऋषि ने जब ऐसा कहा तो ब्रह्मचारी कहते हैं। हे प्रभु, हमारे शरीर की जो अग्नि उदबुद होती है। उसकी समिधा ज्ञान है, उसकी संमिधा विवेक है, जिसको धारण करने के पश्चात मानव का जीवन धन्य हो जाता है और यह संसार उदबूद स्वाहा कह करके अपनी वाणी से आंतरिक, अपने को ब्रह्म-जगत में प्रवेश करा देता है और कहीं-कहीं ब्रह्मा-जगत की अग्नि को आंतरिक जगत में प्रवेश करा देता है। तो परिणाम क्या? यह जो विशाल अग्नि है उस अग्नि को हम अपने में धारण करना चाहते हैं ।जो अग्नि लोको में सूर्य को प्रकाश मान बना रही है। तेजोमयी बना रही है। वही अग्नि है जो पृथ्वी के गर्भ में प्रवेश होकर के नाना प्रकार के खाद और खनिजों को उत्पन्न कर रही है। वह जो बननती है, जो नाना प्रकार की वनस्पतियों को ऊंचा बना रही है। वही अग्नि है जो माता के गर्भ स्थल में एक बिंदु प्रवेश करता है। उसे एक बिंदु के प्रवेश करने पर परमाणु की व्यवस्था परमाणु विभक्त हो जाते हैं और परमाणु अपने आंगन में गति करना प्रारंभ करते हैं। जब माता के गर्भ में परमाणु गति करते हैं। उन्‍ही प्रमाणुओ में से वह धर्मम्‌ जबपृहे लोका: वेद का ऋषि कहता है। अपने-अपने धर्म अपनी-अपनी आभा में, अपने-अपने कारण में, प्रत्येक प्रमाण लय हो करके हम जैसे पुत्रों का निर्माण माता के गर्भ स्थल में करता है।


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण
september 08, 2019 RNI.No.UPHIN/2014/57254
1.अंक-36 (साल-01)
2.शनिवार,08सितबंर 2019
3.शक-1941,भादप्रद शुक्‍लपक्ष दशमी,विक्रमी संवत 2076
4. सूर्योदय प्रातः 5:57,सूर्यास्त 6:43
5.न्‍यूनतम तापमान -26 डी.सै.,अधिकतम-34+ डी.सै., हवा की गति धीमी रहेगी, उमस बनी रहेगी।
6. समाचार पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है! सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा।
7. स्वामी, प्रकाशक, मुद्रक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित।


8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102


9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.201102


https://universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
cont.935030275


यूपी-गुजरात, एमपी के मुख्यमंत्रियों के इस्तीफे की मांग

अकांशु उपाध्याय              नई दिल्ली। कांग्रेस ने कोविड से मौत के आंकडे़ छुपाने का आरोप लगाते हुए भाजपा की प्रदेश सरकारों को आड़े हाथ लिया...