बुधवार, 19 अगस्त 2020

4 देशों के बीच हुई झड़प, तनाव जारी

तुर्की को अजरबैजान के समर्थन में अर्मेनिया-अजरबैजान के तनाव का प्रतिबिंब क्या हुआ?


अंकारा। 12 और 14 जुलाई को लगभग तीन दिनों की झड़पों के बाद, घटनाएँ थम गई हैं, लेकिन संघर्ष विराम उल्लंघन और तनाव जारी है। संघर्ष के तुरंत बाद, तुर्की ने बहुत स्पष्ट तरीके से अज़रबैजान के लिए अपने समर्थन का प्रदर्शन किया। यहां तक ​​कि यह उच्चतम स्तर पर सिर्फ आवाज वाले समर्थन के साथ संतुष्ट नहीं था, एक बहुत ही व्यापक तुर्की और अज़रबैजानी सशस्त्र बलों ने अभ्यास के साथ वाहन के वास्तविक स्तर (टर्बो ईगल 2020) का सामना किया। इन घटनाओं और अजरबैजान और तुर्की के पक्ष में गंभीर नतीजे मिले। उन्होंने कहा कि "अजरबैजान ने रूस को सीरिया में आमंत्रित करने के लिए तुर्की को आमंत्रित किया जाना चाहिए," या भविष्य में यह सहयोग एक एकीकृत कमांड संरचना के ढांचे के भीतर एक आम सिद्धांत में जगह लेने के लिए दो सेनाओं में विकसित हो सकता है, "उन्होंने घोषणा देखी थी। वास्तव में, तुर्की के विदेश मंत्री ने कहा, "अजरबैजान जो भी समाधान चुनता है, हम उनके द्वारा खड़े होते हैं"। ये सभी तुर्की और अजरबैजान के संबंधों के प्रकाश में स्पष्ट प्रतीत होते हैं, यह एक बहुत अधिक सहयोग में विकसित होगा। अर्मेनियाई पक्ष अजरबैजान के लिए तुर्की का समर्थन है, ग्रीस ग्रीस और तुर्की के बीच पूर्वी भूमध्य सागर में तनाव का वर्णन करके अनुभव करता है कि पैसा देने की कोशिश कर रहे हैं।                 


अमेरिका-चीन के संबंधों में खत्म कड़वाहट

वॉशिंगटन/ बीजिंग। कोरोना वायरस के चलते अमेरिका और चीन के संबंधों में आई कड़वाहट अब दूर होने लगी है। अमेरिका और चीन एक दूसरे की एयरलाइन के उड़ानों की संख्या बढ़ाने पर सहमत हो गए हैं। कोरोना काल में पहले दोनों देशों के बीच हर हफ्ते चार उड़ानें होती थीं, जिसे अब 8 किया जाएगा। इस डील से दुनिया की दो बड़ी अर्थव्यवस्थाओं के बीच महामारी के दौरान लागू की गई यात्रा पाबंदियों में ढील के स्पष्ट संकेत मिले हैं।चीन से दुनियाभर में कोरोना फैलने के आरोप लगने के बाद चीन और अमेरिका में तल्खी बढ़ती चली गई। ट्रंप ने कई बार खुले मंच से कोरोना के लिए चीन को जिम्मेदार ठहराया था।                     


ऐलानः नागरिकों को मुफ्त मिलेगी वैक्सीन

सिडनी। ऑस्ट्रेलिया ने दवा निर्माता एस्ट्राजेनेका के साथ एक संभावित कोविड-19 वैक्सीन के लिए एक समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं। प्रधान मंत्री ने मंगलवार को कहा, दवा की आपूर्ति करने वाले देशों की बढ़ती सूची में शामिल होना है। एक रिपोर्ट के मुताबिक, एस्ट्राजेनेका के कोरोनोवायरस के खिलाफ प्रभावी वैक्सीन देने के लिए वैश्विक दौड़ में सबसे आगे के रूप में देखा जा रहा है, ऑस्ट्रेलिया ने कहा कि उसने अपनी आबादी के लिए पर्याप्त खुराक का उत्पादन करने और वितरित करने के लिए एस्ट्राजेनेका के साथ आशय पत्र पर हस्ताक्षर किए हैं।

प्रधानमंत्री ने बताया, "इस सौदे के तहत, हमने हर ऑस्ट्रेलियाई के लिए जल्दी पहुंच हासिल की है," अगर यह टीका सफल साबित होता है तो हम अपने स्वयं सीधे टीके का निर्माण और आपूर्ति करेंगे और इसे 25 मिलियन भारतीयों के लिए मुफ्त में बनाएंगे।"                   


चारा लेने गए युवक की डूबने से मौत

मधेपुरा। उदाकिशुनगंज प्रखंड क्षेत्र के बिहारीगंज थाना अंतर्गत मंजौरा गांव के बरकुरवा धार में डूबने से सलाद्दीन के पुत्र हबीब अंसारी (28) की मौत हो गई है। वह मंजौरा गांव के वार्ड संख्या सात के रहने वाला था। बताया जा रहा है कि मृतक अत्यंत ही गरीब व्यक्ति था। मेहनत मजदूरी कर अपने परिवार का भरण पोषण करता था। समाज में मिलनसार छवि का व्यक्ति था। लोगों का मानना है कि हबीब पशु का चारा लाने पानी के रास्ते से गुजर रहा था कि अचानक पैर फिसल जाने के कारण गहरे पानी में चले जाने से डूब गया । वहीं घटना की सूचना पाकर मंजौरा केंप प्रभारी मुरलीधर पासवान घटनास्थल पर पहुंचकर लाश को अपने कब्जे में लेकर बिहारीगंज थाना भेज दिया। युवक अपने पीछे दो मासूम बच्चे छोड़ गए। दोनों बच्चे के सिर से पिता का साया हमेशा के लिए उठ गया। वही पत्नी नजराना खातून रह रह कर बेहोश हो जाती। वहीं उदाकिशुनगंज अंचलाधिकारी विजय कुमार राय ने बताया की मृतक के पोस्टमार्टम रिपोर्ट आ जाने के बाद सरकारी सहायता के तहत मृतक के परिजन को चार लाख रुपया का आर्थिक मदद दी जाएगी।               


लापरवाहीः स्कूलों में नहीं पहुंच रहे चावल

आरा। प्राथमिक व मध्य विद्यालयों में नामांकित छात्र-छात्राओं को मध्याह्न भोजन योजना का चावल उपलब्ध कराने के लिए विभाग द्वारा 31 जुलाई तक की तिथि निर्धारित की गई थी। जिन विद्यालयों में थोड़ा बहुत जो चावल उपलब्ध था उसका वितरण कर दिया गया। शेष छात्र छात्राओं को चावल देने के लिए संबंधित प्रधानाध्यापकों ने एमडीएम के प्रखंड साधनसेवी को डिमांड भेजा है लेकिन अभी तक विद्यालयों को आवश्यकता के अनुसार चावल उपलब्ध नहीं कराया गया है। कुछ प्रधानाध्यापकों ने नाम नहीं छापने की शर्त पर बताया कि एमडीएम के प्रखंड साधनसेवी इस बात का दबाव बना रहे हैं कि पहले मेधासाफ्ट पर चावल प्राप्त करने वाले छात्र छात्राओं को चिह्नित कर दिया जाए बाद में चावल वितरण किया जाएगा। जबकि विभाग का निर्देश है कि जिन छात्र छात्राओं को चावल उपलब्ध कराया गया है उन्हीं को मेधासाफ्ट पर चिह्नित करना है। ज्यादातर प्रधानाध्यापक चावल उपलब्ध नहीं होने के कारण वितरण को लेकर हाथ खडे़ कर दिए हैं। ऐसे में प्रखंड क्षेत्र के बच्चों को सरकार प्रायोजित इस लाभ से वंचित होना पड़ रहा है।                   


संशोधन विधेयक के खिलाफ हल्ला बोल

सुंदरनगर/आनी। बिजली संशोधन विधेयक और कोयला खादानों के निजीकरण के खिलाफ एचपी राज्य विद्युत बोर्ड इंप्लाइज यूनियन ने आनी व सुंदरनगर में हल्ला बोला।


सुंदरनगर में मुख्य अभियंता कार्यालय में कर्मचारियों ने नारेबाजी कर विरोध व्यक्त किया। यूनियन के प्रदेश उप महामंत्री जगमेल सिंह ठाकुर ने कहा कि आज उर्जा के क्षेत्र के साथ पूरा सार्वजनिक क्षेत्र बड़े कठिन दौर से गुजर रहा है। एक तरफ कोयला सार्वजनिक क्षेत्र खादानों का निजीकरण करके निजी हाथों में दिया जा रहा है। वहीं बिजली संशोधन विधेयक 2020 को मानसून सत्र में केंद्र सरकार लोकसभा में लाने की तैयारी कर रही है। लगभग देश के 11 राज्यों ने इस पर अपनी असहमति दर्ज की है। बावजूद इसके केंद्र सरकार इसमें आगे बढ़ रही है।               


राशन कार्ड को लेकर कार्यालय पर प्रदर्शन

आरा। राशन कार्ड व प्रधानमंत्री आवास योजना के लाभ से वंचित ग्रामीणों ने बुधवार को अनुमंडल कार्यालय के समक्ष प्रदर्शन किया। अपनी मांगों को लेकर अनुमंडल पदाधिकारी को ज्ञापन देने पहुंचे पीरो प्रखंड के हाटपोखर गांव निवासी राजेश्वर सिंह, शिवजी सिंह, लीलावती देवी, किरण देवी, ज्ञानती देवी, सत्येन्द्र चौधरी, रीना देवी, ललिता देवी, लवकुश कुमार आदि ने कहा कि वे सभी अति निर्धन परिवार के लोग हैं जो किसी तरह मेहनत मजदूरी कर जीवनयापन करते हैं। बावजूद इसके उन्हें न तो राशन कार्ड निर्गत किया गया है और न प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ दिया गया है। ऐसे में वे खुद को उपेक्षित महसूस कर रहे हैं। राशन कार्ड नहीं रहने से उन्हें सरकार प्रदत सस्ते अनाज का लाभ नहीं मिल पा रहा है। इसी तरह आवास योजना का लाभ नहीं मिलने से उन्हें किसी तरह झोपड़ी में जीवन गुजारने को विवश होना पड़ रहा है। ज्ञापन में एसडीएम से उक्त कल्याणकारी योजनाओं का लाभ दिलाने की मांग की गई है।                        


अमेरिकाः पुलिस ने मारे 7666 अश्वेत लोग

वाशिंगटन डीसी। अश्वेतों के साथ बर्ताव को लेकर अमेरिका एक बार फिर से उबल रहा है। मिनेसोटा में 46 वर्षीय जॉर्ज फ्लॉयड की मौत के बाद पूरे अमेरिका में हिंसक प्रदर्शन शुरू हो चुके हैं। यहां तक कि इसकी आंच व्हाइट हाउस तक भी पहुंच चुकी है। हालांकि यह कोई पहला मौका नहीं है जब अमेरिका में अश्वेतों के साथ हो रहे बर्ताव पर लोग सड़कों पर उतरे हैं। 
इतिहास काफी पुराना है। खासतौर से अश्वेतों के साथ पुलिस के बर्ताव को लेकर। पुलिस हिंसा का रिकॉर्ड रखने वाले संगठन 'मैपिंग पुलिस वॉयलेंस' के मुताबिक 2013 से 2019 के बीच ही अमेरिकी पुलिस कार्रवाई में 7666 अश्वेत लोग मारे गए। यह आंकड़ा चौंकाता है। अमेरिका में अश्वेतों की आबादी की बात की जाए तो उनकी हिस्सेदारी महज 13 फीसदी ही है। मगर पुलिस के हमले उन पर ज्यादा होते हैं। आंकड़ों के मुताबिक श्वेत अमेरिकियों की तुलना में ढाई गुना ज्यादा अश्वेत पुलिस की गोली से मारे गए।  
लगभग हर महीने एक अश्वेत की मौत 
'मैपिंग पुलिस वॉयलेंस' के मुताबिक साल में ऐसा एक भी महीना नहीं बीता, जिसमें पुलिस के हाथों किसी अश्वेत की मौत न हुई हो। औसतन अधिकतर 27 दिन ही ऐसे बीते, जब पुलिस ने किसी अश्वेत को नहीं मारा हो। दिसंबर, 2019 में तो एक ही दिन में 9 से ज्यादा अश्वेत नागरिकों की मौत हुई।                   


कोरोना को लेकर नहीं निकालेंगे मोहर्रम

अररिया। फारबिसगंज थाना क्षेत्र के अम्हारा में मंगलवार को मुहर्रम एवं विधि व्यवस्था को लेकर शांति समिति की बैठक आयोजित की गई। बैठक में आपसी सौहार्द को लेकर भी चर्चा हुई। बैठक में उपस्थित पुलिस पदाधिकारी द्वारा कोरोना संक्रमण के कारण महावीरी जुलूस तथा मोहर्रम जुलूस सहित कोई जुलूस का आयोजन नही होगा तथा लोग से अपने अपने घरों में रहकर पर्व मानने की बात कही गई। वही दोनों समुदाय के लोग सदभाव बना के रहे इस पर भी चर्चा हुई।बैठक में थानाध्यक्ष निर्मल कुमार यादववेंदू , पुनि राजेश तिवारी , एसआई डीपी यादव , सीआई प्रमोद सिंह , पूर्व प्रमुख अशोक विश्वास , मुखिया प्रतिनिधि ओमप्रकाश सिंह , पूर्व मुखिया प्रकाश चौधरी , जद यू नेता रमेश सिंह , पैक्स अध्यक्ष मनोज विश्वास , मानिकलाल विश्वास , अजय मंडल ,शिवनारायण मंडल , मो.नूरुद्दीन , शमीम आलम , मो .सोहराब ,दिलीप साह , किरण साह , बाजुद्दीन आदि ग्रामीण मौजूद थे। वही दूसरी और सिमराहा थाना क्षेत्र के मिर्जापुर में भी शांति समिति की बैठक हुई । बैठक में पुलिस निरक्षक के अलावा प्रभारी थानाध्यक्ष शिवपूजन कुमार , ग्रामीण सरवर आलम , विमल मेहता साजिद सवा , गुड्डू खान आदि मौजूद थे।                     


करोना संक्रमण का उतार-चढ़ाव जारी

सुपौल। कोरोना संक्रमण का उतार-चढ़ाव जारी है। मंगलवार को जहां नये संक्रमित मरीजों की संख्या 35 पाई गई वहीं बुधवार को बढ़कर 49 हो गई।


बुधवार को जो नए मामले सामने आए उसमें सुपौल के आठ, किशनपुर के दो, मरौना के दो, पिपरा के सात, त्रिवेणीगंज के पांच, राघोपुर के पांच, छातापुर के छह, प्रतापगंज के चार, बसंतपुर के आठ और सरायगढ़ के दो मरीज शामिल हैं। जिले में अबतक कोरोना संक्रमण के 1964 मामले सामने आ चुके हैं। इनमें से 1504 ठीक हो चुके हैं और एक्टिव मामले 454 बचे हैं।                 


कर्मचारी संगठन ने वित्तमंत्री का पुतला फूंका

कपूरथला। पंजाब नगर पालिका कर्मचारी संगठन की ओर से सरदारी लाल शर्मा पंजाब अध्यक्ष की अध्यक्षता में मांग पत्र प्रमुख सचिव स्थानीय सरकार विभाग पंजाब चंडीगढ़ और डायरेक्टर, स्थानीय सरकार विभाग पंजाब चंडीगढ़ को 27 जुलाई 2020 को भेजा गया था। इस संबंधी मंगलवार को पंजाब भर में नगर निगम/नगर कौंसिलों और नगर पंचायतों की समूह यूनियन मैंबरों के साथ मांगों संबंधी एक दिन की हड़ताल की गई।


नगर पालिका कर्मचारी संगठन कपूरथला के अध्यक्ष गोपाल थापर की अध्यक्षता में वित्त मंत्री मनप्रीत बादल का पुतला जलाया गया। इस दौरान विशेष तौर पर नगर पालिका कर्मचारी संगठन के पंजाब अध्यक्ष सरदारी लाल शर्मा शामिल हुए। उनकी ओर से पंजाब सरकार की कर्मचारी विरोधी नीतियों के प्रति रोष जताया। उन्होंने कहा कि यदि पंजाब सरकार की ओर से अपनी नीतियों में कोई बदलाव नहीं किया गया और कर्मचारियों की मांगों को न माना गया, तो पंजाब भर में कर्मचारियों की ओर से सरकार के खिलाफ संघर्ष ओर तेज किया जाएगा। इस अवसर पर नीरज भंडारी नगर निगम कपूरथला सुपरिटेंडेंट, रमन कुमार एसआइ, विक्रम घई सीनियर वाइस अध्यक्ष, चेयरमैन राजेश सहोता, अशोक मट्टू, तरलोचन सिंह, प्रितपाल सिंह, मनोज रत्ती, पुनीत धवन, नरिन्दर सिंह बंटी, गुरदीप सिंह सैणी, संजय धीर, भजन सिंह, अनिल सहोता, विजय कुमार, तिलकराज, अनीता कुमारी, सुनीता, राज रानी, आशा, बिमला, पवन, तजिन्दर कुमार, नरेश कुमार, रोहित सहोता, रोबिन व अन्य सदस्य उपस्थित हुए।                       


सड़क जाम होने से नहीं मिल रही निजात

आरा। बुधवार को भी शहर की सड़कों पर रुक-रुककर जाम लगता रहा। दिन चढ़ते-चढ़ते कई अतिव्यस्त सड़कों पर वाहनों का रेंगने का सिलसिला शुरु हो गया। मुख्य बाजार से लेकर आवागमन की प्रत्येक सड़कों पर वाहनों की कतार लंबी होने लगी। पैदल अथवा बाईक वाले मेन सड़क को छोड़कर अगल-बगल की गलियों में घुसकर जाम से निकल जाने की छटपटाहट में बेचैन दिखे। आम दिनों में सुनसान रहने वाली गलियों भी इन दिनों जाम से बचाव के लिए गुलजार हो रही है। कड़ी धूप में सड़क पर जाम से तरबतर होते लोग शहर की यातायात व्यवस्था और प्रशासन को कोसते रहे। विदित हो कि लगभग आमतौर पर शहर में सुबह होते सड़कों पर आवागमन सामान्य गति से शुरु होती है परंतु दुकान खुलने और दफ्तरों का ताला खुलने के साथ-साथ वाहनों का आवागमन अचानक तेज होने लगता है। दिन चढ़ते-चढ़ते सड़कों पर छोटे-बड़े वाहनों के अलावा पैदल चलने वालों की तादाद में बेहिसाब बढ़ोत्तरी से सड़क जाम आम बात हो चुका है। जिससे आज फिर शहर का अतिव्यस्त मठिया मोड़ के अलावा अस्पताल रोड, शिवगंज, जेल रोड, गोपाली चौक, शीशमहल चौक, अरण्य देवी मंदिर मोड़, सब्जी गोला, मीरगंज, सिडीकेट मोड़, बिचली रोड आदि जगहों पर रुक-रुककर सड़क जाम से बुरी तरह प्रभावित हुआ। सड़कों पर जाम में फंसे लोगों की बड़ी संख्या में मास्क के प्रति जागरुकता दिखाई दी लेकिन सोशल डिस्टैंसिग के मामले लोगों पुरी तरह लापरवाही बरतते दिखें। बताया जाता है कि शहर में कुछ दिनों से यातायात व्यवस्था पुरी तरह चरमराई गई है। वहीं जर्जर सड़कों पर आवागमन सामान्य गति से नहीं हो पा रहा है। मठिया मोड़ और सब्जी गोला समेत अन्य कई सड़कों पर जहां-तहां नाली अथवा कूड़ों का अंबार आवागमन में मुश्किलें खड़ा कर रहा है। सड़कें संकीर्ण है। सड़कों पर कायदे से पार्किंग अथवा डिवाईडर की व्यवस्था नहीं है। यातायात पुलिस हर दिन नियम से लगभग हर चौक- चौराहें पर तैनात की जाती है लेकिन वे कुछ प्रयास के बाद ढीले दिखाई देने लगते है। खास बात यह है कि शहर की यातायात व्यवस्था को सुचारु रुप से चलाने के लिए कई बार प्रयास किया गया है। वर्तमान जिलाधिकारी रोशन कुशवाहा ने यातायात को लेकर एक विशेष बैठक में यह निर्देश दिया था कि अब ट्राफिक व्यवस्था की निगरानी ट्राफिक डीएसपी करेंगे। यह भी आदेश दिया गया था कि सड़क जाम से संबंधित क्षेत्र के थानाध्यक्ष की जिम्मेदारी होगी कि वे सड़क जाम से लोगों को राहत दिलाएंगे। जिलाधिकारी के आदेश का एक माह गुजर चुका है। शुरु में कुछ सक्रियता दिखाई भी पड़ी थी लेकिन फिर लोगों के लिए सड़क जाम की समस्या सिरदर्द बन गई है। जनप्रतिनिधियों की चुप्पी भी लोगों को खल रही है।             


मुख्यालय पर पीड़ितों का धरना-प्रदर्शन

मुजफ्फरपुर। कुढ़नी प्रखंड एवं अंचल कार्यालय पर कुढ़नी पंचायत के नयाटोला के बाढ़ पीड़ितों ने राम सिरताज सहनी के नेतृत्व में प्रदर्शन किया। बाढ़ पीड़ितों का आरोप था कि वे लोग पानी से घिरे हैं। खाने पीने के लाले पड़े हुए है। लेकिन, अंचल प्रशासन ने पूर्व में संचालित सामुदायिक किचन को बंद कर दिया है। इतना ही नहीं, उनलोगों को बाढ़ राहत की छह हजार की राशि भी नहीं मिली है। प्रदर्शनकारी फिर से सामुदायिक किचन चालू करने एवं राहत राशि देने की माग कर रहे थे। बीडीओ संजीव कुमार ने जल्द सामुदायिक किचन चालू कराने का आश्वासन देकर लोगों को शात कराया। सरैया :ऑल इंडिया किसान खेत मजदूर संगठन के बैनर तले बाढ़ पीड़ितों ने प्रखंड मुख्यालय पर धरना- प्रदर्शन किया। इसके पूर्व जगत सिंह उच्च विद्यालय मानिकपुर के प्रागण से जुलूस निकाला गया जो प्रखंड कार्यालय पहुंच सभा में तब्दील हो गया। सभा को एसयूसीआइ कम्युनिस्ट पार्टी के राज्य कमेटी सदस्य योगेंद्र राम, रंजीत कुमार, माधो भगत, जीवन राम, रामप्रवेश राम सुनील कुमार सिंह आदि ने संबोधित किया। वहीं, जुलूस का नेतृत्व प्रखंड सचिव कौशल भगत ने किया। जबकि अध्यक्षता प्रखंड अध्यक्ष जयनंदन पंडित ने की।               


बेहतर प्रबंधन से ही रूकेगा कोरोना संक्रमण

बोकारो। गुरु गोविद सिंह एजुकेशनल सोसाइटीज इंजीनियरिग व प्रबंधन संस्थान कांड्रा, चास की ओर से एन इंपैक्ट ऑफ ब्लॉक चेन टेक्नोलॉजी एंड मैनेजमेंट ऑफ कोविड 19 विषय पर दो दिवसीय अंतरराष्ट्रीय वेबिनार का आयोजन किया गया। सम्मानित अतिथि संस्थान के अध्यक्ष तरसेम सिंह, सचिव सुरेंद्र पाल सिंह व निदेशक डॉ. विकास घोषाल ने कार्यक्रम का शुभारंभ किया। अध्यक्ष तरसेम सिंह ने कहा कि कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव को लेकर जागरुकता जरुरी है। इसके संक्रमण पर रोक लगाने के लिए बेहतर प्रबंधन जरुरी है। यह बीमारी एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैलता है।                     


पूर्व महापौर ने आयुक्त को सौंपा पत्र

झाँसी। नगर निगम द्वारा लाखों रुपए से कराई गई नालों की सफाई कठघरे में खड़ी हो गई है। पूर्व महापौर ने नालों की सफाई में भ्रष्टाचार का आरोप लगाते हुए नगर आयुक्त को पत्र सौंपा है। उन्होंने बारिश से पहले शिकायत किए जाने के बावजूद जाँच न कराने पर भी सवाल उठाए हैं।


गन्दे पानी को समेट कर महानगर से बाहर ले जाने वाले छोटे-बड़े नाले सालभर में कचरे से पट जाते हैं। हालत यह हो जाती है कि ़जरा-सी बारिश होने पर यह नाले उफना जाते हैं और गन्दगी सड़कों पर बहने लगती है। महानगर को जलभराव से बचाने के लिए नगर निगम द्वारा हर साल बारिश से पहले नालों की सफाई कराई जाती है, जिस पर लाखों रुपए ख़्ार्च किए जाते हैं। इस साल भी नगर निगम ने बड़े नालों की सफाई का ठेका दिया, जबकि छोटे नालों की सफाई विभाग द्वारा करायी गई। पूर्व महापौर किरण राजू बुकसेलर ने 15 जुलाई को मण्डलायुक्त को शिकायती पत्र देकर बताया था कि निविदाएं होने के बाद भी ठेकेदारों ने नाला सफाई का कार्य प्रारम्भ नहीं किया। उन्होंने बताया कि क्रिश्चियन अस्पताल से तालपुरा, कोरी समाज की धर्मशाला, ओरछा गेट मार्ग तक के नाले की सफाई का टेण्डर 3 लाख रुपए, शिवाजी नगर से श्याम चौपड़ा तक नाला सफाई का कार्य 1.5 लाख रुपए में टेण्डर दिया गया, लेकिन ठेकेदारों ने का़ग़जों में ही नालों की सफाई दर्शा दी। उन्होंने आरोप लगाया कि महानगर के अन्य नालों में भी ऐसा ही खेल किया गया। शिकायत के बावजूद अधिकारियों ने नालों की सफाई में हुई गड़बड़ी की जाँच नहीं कराई। इससे नारा़ज पूर्व महापौर किरण राजू बुकसेलर ने आज फिर नगर आयुक्त को शिकायती पत्र दिया। उन्होंने बताया कि नालों की सफाई में भ्रष्टाचार किया गया है। बारिश से गन्दगी सड़क पर आ गई है, जबकि अधिकांश नालों की गन्दगी बह गयी है, जिससे सफाई की पुष्टि होना भी कठिन हो गया है। उन्होंने उच्च स्तरीय कमिटि बनाकर नालों की सफाई में हुए घोटाले की जाँच कराने की माँग की है।                  


नगर पालिका आयुक्त ने संभाला पदभार

फतेहाबाद। प्रदेश सरकार ने नगरपरिषद व नगरपालिका को नियंत्रित करने के लिए जिला स्तर पर डिस्ट्रिक्ट म्यूनिसिपल कमिश्नर (डीएमसी) यानी नगरपरिषद आयुक्त को कमान सौंपी है। पालिका और परिषद की डीसी की पावर डीएमसी के पास होगी। नवनियुक्त एचसीएस समवर्तक सिंह खनगवाल ने अपना पदभार संभाल लिया है। मंगलवार दोपहर बाद उन्होंने नगरपरिषद फतेहाबाद के अधिकारियों व कर्मचारियों की बैठक ली। उन्होंने अधिकारियों से नप में हो रहे विकास कार्यों के बारे में चर्चा करने के साथ ही कागजात की जानकारी ली। वहीं शहर में हो रहे विकास कार्यों को भी देखा। कर्मचारियों से पूछा भी गया कि आने वाले समय में क्या किया जाए ताकि अपना शहर साफ सुथरा लगे। समवर्तक सिह ने अधिकारियों व कर्मचारियों से कहा कि शहर में सफाई व्यवस्था को दुरुस्त करें। शहर में अगर सफाई व्यवस्था होगी तो अच्छा होगा। इसके लिए हर दिन जांच होनी चाहिए। शहरवासियों की तरफ से जो भी शिकायतें आती हैं तुरंत इस पर एक्शन ले।               


भारतीय संगीत के लिए अपूर्णीय क्षति

भट्टूकलां। गांव पीलीमंदोरी में शास्त्रीय संगीत के बादशाह रहे पंडित जसराज के निधन पर जिला उपायुक्त शोक व्यक्त करने पहुंचे। गांव पीलीमंदोरी में पंडित जसराज के पारिवारिक सदस्य भी रहते हैं। जहां पहुंचकर उपायुक्त नरहरि सिंह बांगड़ ने उनके पारिवारिक सदस्यों से मुलाकात की और पंडित जसराज के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि पंडित जसराज का निधन भारतीय संगीत के लिए अपूर्णीय क्षति है। बता दें कि पद्म विभूषण से सम्मानित महान शास्त्रीय गायक पंडित जसराज का अमेरिका में 17 अगस्त (सोमवार) शाम को निधन हो गया। वे 90 साल के थे। उन्हें अपने 80 साल के संगीत के सफर में कई अवार्ड से नवाजा गया था। यहां तक कि पिछले साल एक ग्रह का नाम भी उनके नाम पर रखा गया था। डीसी डा. नरहरि बांगड़ पंडित जसराज के पैतृक गांव में पहुंचे और अपने श्रद्धासुमन अर्पित कर उन्हें श्रद्धांजलि दी। उन्होंने कहा कि ऐसी महान शख्सियत को कभी नहीं भुलाया जा सकता। उन्होंने पंडित जसराज के पिता पंडित मोतीलाल के नाम पर बनाए पुस्तकालय भवन का भी निरीक्षण किया और ग्रामीणों व पंडित जसराज के भतीजे दिलीप कुमार रामकुमार जगदीश व सुरेंद्र से गांव से संबंधित चर्चाएं भी की। इस अवसर पर धर्मवीर गोरछिया, पूर्व सरपंच सीताराम, नंबरदार भरत लाल, प्रमुख समाजसेवी रामचंद्र बागड़िया, सुनील गोदारा, पवन, रामनिवास, सुरेश आदि उपस्थित थे।               


मांग को लेकर सफाई सेवक ने की हड़ताल

रामपुरा फूल। सफाई सेवक यूनियन रामपुरा ने एक दिवसीय हड़ताल कर नगर कौंसिल कार्यालय के प्रांगण में रोष प्रदर्शन किया गया। यूनियन के अध्यक्ष चरणदास की अगुआई में लगाए गए रोष धरने के दौरान सफाई सेवकों द्वारा राज्य सरकार के खिलाफ जोरदार नारेबाजी की गई।


यूनियन के अध्यक्ष चरणदास व दीपक कुमार ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा लिए जा रहे कर्मचारी विरोधी फैसले व सफाई सेवकों की मांगे न माने जाने के चलते सफाई सेवक यूनियन पंजाब द्वारा एक दिवसीय स्टे एवं हड़ताल करने का फैसला लिया गया था। प्रदर्शन में यूनियन के सुरेश कुमार, बिट्टू राम, मोठू, जगदीश तथा पवन कुमार आदि भी शामिल थे।                   


सीएमओ कार्यालय के सामने धरना जारी

हिसार। जिले की आशा वर्कर ने विभिन्न मांगों को लेकर बुधवार को सीएमओ कार्यालय के सामने धरना दिया। आशा वर्कर ने कहा कि अपनी मांगों व समस्याओं के बारे में उन्होंने बार-बार विभाग को अवगत करवाया। लेकिन विभाग व सरकार की ओर से समाधान नहीं हुआ। इससे पहले भी हड़ताल पर रहे चुके है। आशा वर्करों ने सरकार से कोई जवाब ना मिलने पर हड़ताल को चार दिन के लिए बढ़ाया है।


आशा वर्करों ने मांग की है कि जनता को गुणवत्ता स्वास्थ्य सुविधाएं प्रदान करने हेतू सरकारी स्वास्थ्यों के ढांचे को मजबूत किया जाए व एनएचएम को स्थाई किया जाए। आठ एक्टिविटी का काटा गया 50 फीसद तुंरत वापस लागू किया जाए। कोविड-19 में काम कर रही आशाओं को जोखिम भत्ते के तौर पर 4 हजार रुपये दिए जाएं। कोविड-19 के लिए दिए जा रहे 1000 प्रोत्साहन राशि का 50 फीसद दिया जाए। गंभीर रूप से बीमार एवं दुर्घटनाओं की शिकार आशा वर्कर को सरकार के पैनल अस्पतालों में इलाज की सुविधा दी जाए। आशा वर्कर को सामुदायिक स्तरीय स्थायी कर्मचारी बनाया जाए। जब तक पक्का कर्मचारी नहीं बनाया जाता, तब तक हरियाणा सरकार का न्यूनतम वेतन दिया जाए और इसे महंगाई भत्ते के साथ जोड़ा जाए। ईएसआइ एवं पीएफ की सुविधा दी जाए, आशा वर्कर को हेल्थ वर्कर का दर्जा दिया जाए और 21 जुलाई 2018 को जारी किए गए नोटिफिकेशन के सभी बचे हुए निर्णय लागू किए जाए।                  


बारिश के कारण फसलों का हुआ नुकसान

ऊधमपुर। जारी मानसून में सोमवार मध्यरात्रि से लेकर मंगलवार सुबह तक हुई बारिश ने राहत तो कम दी, मगर आफत देकर कई जगहों पर नुकसान भी किया। वार्ड नंबर 20 के स्याल सल्लन इलाके में खेतों में खड़ी फसल को खराब किया, जबकि सलमेड़ी इलाके में बारिश से एक घर की दीवार क्षतिग्रस्त होने से कार को नुकसान पहुंचा।


जारी मानसून में सोमवार मध्यरात्रि से शुरू हुई बरसात मंगलवार सुबह तक होती रही, मगर मूसलधार बारिश करीब डेढ़ घंटे हुई। रातभर हुई बरसात ने इलाके में 111.8 एमएम पानी बरसाया। इस महीने में अब तक 224.2 एमएम बारिश हुई है, जिसमें से 50 फीसद पानी रात को बरसा। बारिश से जिले में कई स्थानों पर सामान्य जनजीवन प्रभावित हुआ। जिले में अनेक जगहों पर बरसात की वजह से नुकसान हुआ है।                   


बेलारूस संकट में देख रूस ने दी चेतावनी

मॉस्को। बेलारूस में चल रहे सरकार विरोधी प्रदर्शनों के बीच रूस ने दुनिया को चेतावनी दी है। रूस ने कहा है कि दुनिया के दूसरे देशों को बेलारूस संकट से दूर रहना चाहिए।


रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने फ्रांस के राष्ट्रपति और जर्मन चांसलर से फोन पर बातचीत की। इस दौरान उन्होंने कहा कि बेलारूस के राजनीतिक संकट में किसी भी तरह का हस्तक्षेप नहीं किया जाना चाहिए। यदि ऐसा किया जाता है तो बेलारूस में हालात सुधरने के बजाये और बिगड़ जाएंगे।                     


उत्तर कोरिया ने 3 देशों को बनाया निशाना

प्योंगयांग। उत्तर कोरिया अपने परमाणु बमों के जखीरे को लगातार बढ़ा रहा है। अमेरिकी सेना की एक आंतरिक रिपोर्ट में दावा किया गया है कि किम जोंग उन की सेना के पास 60 से अधिक परमाणु बम मौजूद हैं। जिनके निशाने पर अमेरिका, जापान और दक्षिण कोरिया है। इसके अलावा उत्तर कोरिया के पास दुनिया में तीसरा सबसे ज्यादा रसायनिक हथियारों का जखीरा है। जिसका कुल वजन 5,000 टन से ज्यादा है।



उत्तर कोरिया के पास 20 से 60 परमाणु बम


यूएस डिपॉर्टमेंट ऑफ आर्मी हेडक्वॉर्टर की नार्थ कोरिया टेक्टिस नाम की रिपोर्ट में दावा किया गया है कि किम जोन उन अपने अस्तित्व की रक्षा के लिए इन हथियारों का त्याग नहीं करेंगे। आर्मी हेडक्वॉर्टर ने अनुमान जताया है कि उत्तर कोरिया के पास 20 से लेकर 60 परमाणु बम है। इसके अलावा उसके पास हर साल 6 नए उपकरणों को बनाने की क्षमता है।                           


जापान का निर्यात 19.2 प्रतिशत घटा

टोक्यो। कोरोना वायरस महामारी का प्रभाव दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था जापान के निर्यात पर देखा गया। जुलाई में जापान का निर्यात एक साल पहले इसी माह में हुये निर्यात की तुलना में 19.2 प्रतिशत घट गया। वित्त मंत्रालय के शुरुआती आंकड़ों के मुताबिक जुलाई 2020 में जापान का आयात भी 22.3 प्रतिशत घटा है। जापान से अमेरिका को निर्यात में विशेषतौर से गिरावट आई है। जुलाई में जापान से अमेरिका को निर्यात 19.5 प्रतिशत घटा है। इनमें प्लास्टिक का सामान, लोहा और इस्पात और कंप्यूटर के कलपुर्जे शामिल हैं। हालांकि, चीन में आर्थिक गतिविधियों में सुधार होने से जापान ने पिछले चार माह के दौरान पहली बार व्यापार अधिशेष हासिल किया है। कोरोना वायरस महामारी के प्रसार के बाद से जापान की निर्यात आधारित अर्थव्यवस्था कमजोर पड़ी है। इसकी वजह से कुछ कारखानों में उत्पादन रुका है तो पर्यटन को नुकसान हुआ है जिससे आर्थिक गतिविधियां कमजोर पड़ी हैं। जापान में कभी भी पूरी तरह से लॉकडाउन नहीं लगाया गया लेकिन लोगों को घर से काम करने को प्रोत्साहित किया गया, मास्क पहनने और सामाजिक स्तर पर दूरी बनाने को कहा गया। कुछ स्टोरों ने अपने कामकाज के घंटो में कटौती की है। जापान में अब तक कोरोना वायरस संक्रमण के 57,636 मामले सामने आये हैं जिनमें 1,100 लोगों की मौत हुई है। हाल में संक्रमण फैलने के मामले बढ़ने से चिंता बढ़ी है।                     


फ्रांसः फुटबॉल का पहला मुकाबला स्थगित

पेरिस। मार्सेली टीम में कोविड-19 का मामला मिलने के बाद फ्रांस की घरेलू फुटबॉल फुटबॉल लीग के पहले मुकाबले को स्थगित कर दिया गया। फ्रेंच लीग ने एक बयान में कहा कि शुक्रवार को सेंट-एटीन्ने के खिलाफ मार्सेली के घरेलू मुकाबले को अब 16 सितंबर या 17 सितंबर को खेला जाएगा। 


इससे पहले फुटबॉल क्लब मार्सेली और निमेस ने नए सत्र शुरू होने से तीन दिन पहले अपनी टीम के कर्मचारियों के कोरोना वायरस से संक्रमित होने की सूचना दी थी। मार्सेली ने कहा कि उसके क्लब से जुड़े तीन लोग कोविड-19 पॉजिटिव पाए गए है।                         


14 सितंबर से होगा टूर्नामेंट का आयोजन

रोम। कोरोना वायरस महामारी के कारण स्थगित किये गए इटली ओपन टेनिस टूर्नामेंट का आयोजन अब 14 सितम्बर से होगा। इस टूर्नामेंट का फाइनल 21 सितम्बर को खेला जाएगा। आयोजकों ने उक्त जानकारी दी। बता दें कि पहले इस प्रतियोगिता का आयोजन मई में होना था,लेकिन कोरोना वायरस महामारी के कारण इसे स्थगित कर दिया गया था। बता दें कि इटली ओपन क्ले कोर्ट का एक अहम टूर्नामेंट है।                       


ब्राजील में 7000 लोगों का होगा टेस्ट

ब्राजील ने जॉनसन एंड जॉनसन की कोरोना वैक्सीन के फाइनल टेस्ट को दी मंजूरी, 7000 लोगों पर होगा टेस्ट


ब्रासीलिया। ब्राजील ने कोरोना वायरस को लेकर बनाई जा रही जॉनसन एंड जॉनसन की वैक्सीन के क्लीनिकल ट्रायल के अंतिम चरण को मंजूरी दे दी है। ब्राजील के स्वास्थ्य नियामक ने इस बारे में जानकारी दी है। कोरोना से बुरी तरह प्रभावित ब्राजील में ये चौथी वैक्सीन है जिसके ट्रायल की अनुमित प्रदान की गई है।


स्वास्थ्य नियामक ने जानकारी देते हुए बताया कि कंपनी ब्राजील के सात राज्यों में 7000 वालंटियर्स के ऊपर वैक्सीन का टेस्ट करेगी। अप्रूवल के पहले ये वैक्सीन का इंसानों पर होने वाला सबसे बड़ा परीक्षण होगा। नियामक अधिकारी गुस्तावो मेंडेस ने बताया कि इसके साथ ही एक और वैक्सीन के अध्ययन की अनुमित दी जा चुकी है जिसमें महत्वपूर्ण प्रगति देखने को मिल रही है।                   


दिल्ली से लंदन के लिए शुरू हो रही फ्लाइट

नई दिल्ली। निजी क्षेत्र की विमान सेवा कंपनी विस्तारा दिल्ली और लंदन के बीच नॉन स्टॉप उड़ान शुरू करेगी। एयरलाइन 28 अगस्त से 30 सितंबर के बीच दिल्ली से लंदन के बीच स्पेशल फ्लाइट शुरू करेगी। ये उड़ानें सोमवार, बुधवार और शुक्रवार को चलेंगी। भारत और ब्रिटन के बीच उड़ान सेवा में समझौतों के तहत इन उड़ानों की मंजूरी दी गई है। 


कितना होगा किराया


दिल्ली से लंदन तक का इकोनॉमी क्लास का एक तरफा किराया 29,912 रुपये से शुरू होगा। प्रीमियम इकोनॉमी क्लास का किराया 44,449 रुपये और बिजनेस क्लास में यह किराया 77,373 रुपये से शुरू होगा।


विस्तारा के मुख्य कार्यकारी अधिकारी लेस्ली थेंग के मुताबिक, दुनियाभर से धीरे-धीर लॉकडाउन खुलने के दौरान ये विशेष उड़ान दोनों देशों के बीच यात्रा को सुविधाजनक बनाने का काम करेगी। एयरलाइन दोनों तरफ से नॉन-स्टॉप उड़ान के लिए इस रूट पर अपने ब्रांड-न्यू बोइंग 787-9 ड्रीमलाइनर विमान का इस्तेमाल करेगी।                


दुनिया के बाद, घर में भी घिरे 'चीनी राष्ट्रपति'

बीजिंग। ऐसा नहीं है कि चीन के खिलाफ दूसरे देशों में ही आवाज उठ रही है, राष्ट्रपति शी जिनपिंग अब अपने घर में भी घिरते जा रहे हैं। कोरोना से लेकर विस्तारवादी नीतियों की वजह से चीन गिने-चुने देशों को छोड़कर सभी से दुश्मनी मोल लेता जा रहा है। ऐसे में चीन में भी जिनपिंक की नीतियों पर सवाल उठाए जाने लगे हैं। चीन के प्रमुख सेंट्रल पार्टी स्कूल की पूर्व प्रफेसर छाई शीआ ने जिनपिंग पर निशाना साधते हुए कहा कि वह देश को खत्म करने पर तुले हैं। 


शी जिनपिंग के खिलाफ आवाज उठाने की वजह से शीआ को सोमवार को चाइना कम्युनिस्ट पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा दिया गया। शी की आलोचना वाले क्लिप के वायरल हो जाने के बाद पार्टी से बाहर की गईं शीआ ने कहा कि बहुत से लोग पार्टी से निकलना चाहते हैं।                      


दुनिया में मृतक संख्या-7.9 लाख पार

दुनिया भर में कोरोना का कहर जारी है। इस महामारी से अभी तक 2.21 करोड़ से ज्यादा लोग संक्रमित हो चुके हैं, जबकि 7.9 लाख से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। कोरोना वायरस से सबसे ज्यादा तबाही अमेरिका, ब्राजील और भारत में हुई है।


भारत में अब तक संक्रमण के मामलों की कुल संख्या 27,67,273 पहुंच गई है। इसके अलावा 52,889 लोग इस महामारी से जान गंवा चुके हैं। हालांकि इससे ठीक होने वाले लोगों की संख्या 20,37,870 पहुंच गई है, ये सभी मरीज ठीक होकर घर पहुंच चुके हैं। भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (ICMR) के मुताबिक कल यानी 18 अगस्त तक कोरोना वायरस के लिए कुल 3,17,42,782 सैंपल टेस्ट किए गए, जिनमें से 8,01,518 सैंपल की टेस्टिंग कल की गई।भारत के अलावा अमेरिका में 5,481,557 लोग और ब्राजील में 3,407,354 लोग इस महामारी के चपेट में आ चुके है। अमेरिका में 1.71 लाख संक्रमितों की जान गई है और ब्राजील में कोरोना से मरने वालों का आंकड़ा 1 लाख को पार कर गया है।               


जनपद में कोरोना संक्रमित संख्या-156

अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। देश में कोरोना वायरस संक्रमितों की संख्या 27 लाख के पार पहुंच गई है। साथ ही देश में अनलॉक की प्रक्रिया भी शुरु हो गई है। अनलॉक की प्रक्रिया में आपको थोड़ी सतर्कता बरतने की जरुरत है आपको अपने आसपास कोरोना की क्या स्थिति है। इसके बारे में पता होना जरुरी है। यहां जानें अपने जिले गाजियाबाद, हापुड़ और नोएडा का हाल। 


गाजियाबाद के लोनी के सरकारी चिकित्सक और जिला एमएमजी अस्पताल की नर्स समेत 156 कोरोना संक्रमित हो गए हैं। इनमें दो गर्भवती महिला, एक 90 साल के बुजुर्ग और एक सात साल का बच्चा भी शामिल है। साहिबाबाद के विधायक के बड़े भाई भी संक्रमित होने के बाद कौशांबी के यशोदा अस्पताल में भर्ती हो गए हैं। सीएमओ कार्यालय के केंद्रीय दवा स्टोर में कार्यरत फार्मासिस्ट व उसका बेटा भी संक्रमित है। मंगलवार को प्रशासन द्वारा जारी की गई रिपोर्ट के मुताबिक ठीक होने पर 163 मरीजों की अस्पतालों से छुट्टी कर दी गई है। जिले में अब सक्रिय मरीजों की संख्या 1071 है। करीब 23 मरीजों को होम आइसोलेशन की अनुमति दी गई है। 14 पहले से ही निजी अस्पतालों में भर्ती हैं। स्वस्थ होने वालों का आंकड़ा 5652 पर पहुंच गया है।                        


दिल्ली में संक्रमितों की संख्या 1,54,741

नई दिल्ली। दिल्ली में कोविड-19 के 1,374 नए मामले सामने आए जिससे बुधवार को संक्रमित लोगों की संख्या बढ़कर 1,54,741 हो गई। शहर में इस संक्रमण से मरने वालों की संख्या बढ़कर 4,22,9 हो गई। स्वास्थ्य विभाग के बुलेटिन के अनुसार पिछले 24 घंटे में कोविड-19 के 12 और मरीजों की मौत हो गई। 
शहर में कुल संक्रमित लोगों की संख्या अब 1,54,471 हो गई है। यहां स्वस्थ होने की दर 90.11 फीसदी और संक्रमण दर 6.77 फीसदी है। संक्रमण का पता लगाने के लिए मंगलवार को 20,276 जांच की गईं और सोमवार को 14,988 जांच हुई थीं। पिछले 24 घंटे में 5419 आरटी-पीसीआर, सीबीएनएएटी और ट्रूनेट परीक्षण तथा 14857 रैपिड एंटीजन जांच की गई है। राष्ट्रीय राजधानी में अब तक 13,37,374 जांच हुई हैं जबकि प्रति दस लाख पर जांच की संख्या 70,388 हो गई है। बुलेटिन में बताया गया कि दिल्ली में वर्तमान में 11,068 मरीजों का इलाज चल रहा है। वहीं पिछले 24 घंटे में 1,146 लोग या तो स्वस्थ हुए, शहर से बाहर गए या फिर उन्हें अस्पतालों से छुट्टी मिल गई। ऐसे मरीजों की कुल संख्या 1,39,447 है। दिल्ली में फिलहाल 557 कोविड-19 निषिद्ध क्षेत्र हैं।                           


संक्रमण काबू करने के लिए मजिस्ट्रेट तैनात

अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। कोरोना वायरस संक्रमण की रोकथाम के लिए गाजियाबाद जिले में 51 मजिस्ट्रेट तैनात किए गए हैं। हर थानावार चार-चार मजिस्ट्रेट रिपोर्ट तैयार करेंगे। आशा, एएनएम और बीएलए की ओर से डोर-टू-डोर किए जा रहे सर्वे की मॉनिटरिंग और रिपोर्टिंग पर नजर रखेंगे।


जिले में ज्यादा से ज्यादा जांच करने के लिए कई टीमें अलग-अलग रूप में काम कर रही हैं। यह टीम अपनी-अपनी रिपोर्ट अलग-अलग अधिकारी को रही हैं, जिसके कारण रिपोर्ट में एक समानता नहीं आ पा रही है। इसके लिए अब प्रशासन की ओर से इन सभी कार्य के लिए प्रतिदिन थानावार सर्वे टीम की मॉनिटरिंग करेंगे और उसकी रिपोर्ट प्राप्त करने के लिए मजिस्ट्रेट तैनात कर दिए गए हैं। सभी थाननों के लिए कुल 51 मजिस्ट्रेट लगाए गए हैं।                   


जनपद में तगड़ी बारिश, घरों तक पानी

अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। दिल्ली से सटे गाजियाबाद में मूसलाधार बारिश ने बुधवार को गर्मी से तो राहत दिलाई, लेकिन जलभराव ने जिले वासियों के लिए आफत खड़ी कर दी। सड़कों से लेकर घरों तक पानी भर गया। अंडरपास पानी से लबालब हो गए। गोशाला अंडरपास में पानी भरने पर आवाजाही प्रभावित होने के कारण लाइनपार का इलाका पुराने शहर से घंटों कटा रहा। कई लोग हादसे का शिकार होने से बचे। घुटने तक पानी भरा होने की वजह से सड़क और नाले की सीमा का लोगों को अंदाजा नहीं लग पाया। इस बारिश ने नगर निगम और नगर पालिकाओं की नाला सफाई की हकीकत सामने लाकर रख दी। बारिश के कारण जीटी रोड, मेरठ रोड, हापुड़ रोड पर जाम की स्थिति बनी रही।


सुबह 6.30 बजे से जिले में बूंदाबादी शुरू हुई। करीब 8.30 बजे बारिश तेज हो गई। ये वक्त ऑफिस और कामकाज पर जाने का होता है। बारिश की वजह से लोग घरों में अटक गए। सुबह 11.15 बजे तक बारिश चलती रही। सवा दो घंटे के अंतराल में गली, मोहल्ले और सड़कें पानी में डूब गईं। निचले इलाकों में घरों में पानी भर गया। लोग बाल्टी और बर्तन से पानी घरों से बाहर फेंकते नजर आए। सिस हिंडन क्षेत्र में हिंडन रिवर मेट्रो स्टेशन के पास और लाइनपार क्षेत्र में गोशाला पानी से लबालब भर गया। नंदग्राम, पटेलनगर, वाल्मीकि कुंज, संजयनगर, गोविंदपुरम, नेहरूनगर, लोहियानगर, सिहानी, सुदामापुरी, क्रिश्चियन नगर बागू, सेन विहार, राहुल विहार, प्रताप विहार, अकबरपुर-बहरामपुर, बम्हैटा, मानसरोवर कॉलोनी, हिंडन विहार, कैला भट्ठा, इस्लाम नगर समेत विभिन्न इलाकों में जलभराव से लोगों को दिक्कत हुई।                     


महिला ने पति समेत बच्चों की कुर्बानी दी

नागपुर। महाराष्ट्र के नागपुर में एक महिला डॉक्टर के अपने पति और बच्चों की हत्या के बाद खुदकुशी करने का मामला सामने आया है। पुलिस के मुताबिक, मंगलवार को कथित तौर पर अपने पति और दो नाबालिग बच्चों की हत्या के बाद 41 साल की एक डॉक्टर ने आत्महत्या कर ली। पुलिस ने बताया कि कोराडी इलाके के ओम नगर स्थित अपने घर में डॉ सुषमा राणे, इंजीनियरिंग कॉलेज में प्रोफेसर उनके 42 साल के पति धीरज, उनके 11 और पांच साल के दो बच्चे मृत पाए गए।कोराडी पुलिस स्टेशन के एक अधिकारी ने बताया कि धीरज और बच्चों के शव मेन बेडरूम के बिस्तर पर पाए गए, जबकि डॉक्टर का शव छत के पंखे से लटका मिला। अधिकारी ने कहा कि साथ में रहने वाली मृतक की 60 साल की बूढ़ी चाची ने कमरे का दरवाजा खटखटाया और उन्हें कोई जवाब नहीं मिला, तब मामला सामने आया। उन्होंने कहा कि पुलिस ने घटनास्थल से दो सीरिंज और एक सुसाइड नोट बरामद किया है, जिसमें सुषमा ने कथित रूप से कहा है कि उसने यह कदम इसलिए उठाया क्योंकि वह खुश नहीं थी।                  


महाराष्ट्र में रोजाना हो रही 300-400 मौतें

सबसे ज्यादा मृत्यु दर वाले गुजरात को पीछे छोड़ सकता है महाराष्ट्र


महाराष्ट्र में अब हर दिन कोरोना से 300-400 के बीच मौतें हो रही हैं


मुंबई। कोरोना महामारी अपने साथ कई तरह के रहस्य भी लाई है। इन्हीं तमाम रहस्यों में से एक ये भी है कि भारत में किसी और राज्य की अपेक्षा महाराष्ट्र में ज्यादा लोगों की मौत क्यों हो रही है। महाराष्ट्र में संक्रमण की दर भी काफी ज्यादा रही जिसके कई कारण हैं। महामारी के शुरुआती दिनों में यहां अंतरराष्ट्रीय और घरेलू आवाजाही काफी ज्यादा रहने संक्रमण तेज फैला। दूसरे, सघन आबादी में रह रहे निम्न आय वर्ग के लोगों के लिए आइसोलेशन बहुत मुश्किल रहा। लेकिन ये सवाल उठता है कि महाराष्ट्र ऐसा राज्य है जहां पर अपेक्षाकृत बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं हैं, फिर भी यहां कोरोना की मृत्यु दर इतनी ज्यादा क्यों है?                     


 सुभाष सिंह चौहान     


72 घंटे में मिल जाएगी उद्योग की अनुमति

बीजेपी भारती


लखनऊ। यूपी में औद्योगिक क्रांति लाने के लिए कैबिनेट ने नए एमएसएमई एक्ट को मंजूरी दे दी है। इस एक्ट के मंजूर होने से अब उद्योग लगाने के लिए आवेदन करने के महज 72 घंटे के अंदर ही उद्योग लगाने की स्वीकृति दी जाएगी। इसके बाद उद्योग से संबंधित अन्य विभागीय अनुमति लेने के लिए उद्यमी को 900 दिन का समय मिलेगा।


विभागीय अनुमति के लिए उद्यमी निवेश मित्र पोर्टल पर आवेदन करेगा, जहां से अनुमति से संबंधित समस्त प्रक्रिया सरकार की नजरों से होकर गुजरेगी।
इस नये एक्ट का नाम उत्तर प्रदेश सूक्ष्म, लघु एवं मद्यम उद्यम (अवस्थापना एवं संचालन) अधिनियम-2020 रखा गया है। आयुक्त एवं निदेशक उद्योग की अध्यक्षता में राज्यस्तरीय नोडल एजेंसी तथा जिलाधिकारी की अध्यक्षता में जिलों में जिला स्तरीय नोडल एजेंसी गठित होगी। जिला स्तरीय नोडल एजेंसी आवेदन के 72 घंटे के अंदर संबंधित विभागों से विचार-विमर्श कर अनुमति प्रदान करेगी।  नए एक्ट में यह व्यवस्था दी गई है कि उद्यमी इकाई की स्थापना के लिए जिला उद्योग केंद्र में आवेदन करेगा, जहां से उसे 72 घंटे के अंदर उद्योग लगाने के लिए स्वीकृति पत्र दे दिया जाएगा। इसके बाद उद्यमी को अगले 900 दिनों तक किसी भी अनुमति की जरूरत नहीं होगी, वह एकाग्र होकर अपने उद्योग को बढ़ाने का काम कर सकेगा। सरकार इस नये एक्ट के माध्यम से राज्य में अधिक से अधिक एमएसएमई उद्योग की स्थापना कर बड़ी तादाद में रोजगार सृजन करना चाहती है।                    


यूपी में दरोगा के 9534 पदों पर भर्ती


लखनऊ। प्रदेश पुलिस का बेड़ा और मजबूत किया जा रहा है। दिसंबर से जनवरी के बीच दरोगा के 9534 पदों पर सीधी भर्ती की तैयारी है। पहले 6130 पदों पर भर्ती होनी थी। इनमें सिविल पुलिस के सब इंस्पेक्टर के 5623, पीएसी के प्लाटून कमांडर के 484 व अग्निशमन सेवा में 23 पद थे। इन्हें बढ़ाकर 9534 कर दिया गया है। 


पुलिस भर्ती व प्रोन्नति बोर्ड के अध्यक्ष आरके विश्वकर्मा के अनुसार लिखित परीक्षा के आयोजन के लिए टेंडर आमंत्रित किए गए हैं। शेष औपचारिकताएं शुरू की जा रही हैं। उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण की वजह से समय लग गया। स्थितियों को देखते हुए परीक्षा की तिथि तय की जाएगी। इसके अलावा पुलिस में एएसआई (मिनिस्टीरियल) के 1300 पदों पर भर्ती होनी है। इसकी प्रक्रिया भी दिसंबर से जनवरी के बीच पूरी की जाएगी।                         


बीजेपी भारती



 

यूपी में शुरू हुआ खाद वितरण घोटाला

लखनऊ। यूपी में खाद की कमी और वितरण में गड़बड़ी के आरोप लगाते हुए शि‍कायतें दिल्ली के रसायन एवं उर्वरक मंत्रालय तक पहुंच रही थीं। भरपूर स्टॉक देने के बाद भी उर्वरक का संकट क्यों हुआ, इसकी पड़ताल के लिए केंद्रीय खाद एवं रसायन मंत्रालय ने एक वित्तीय वर्ष के दौरान सबसे अधि‍क खाद लेने वाले प्रत्येक जिले के टॉप 20 किसानों की सूची बनाई और इसे अपने पोर्टल पर लोड कर दिया। मंत्रालय ने सभी जिलों के जिलाधि‍कारियों को इन किसानों द्वारा खरीदे गए उर्वरक की जांच कर रिपोर्ट देने को कहा। जिलाधि‍कारियों ने पोर्टल से सूची लेकर जब जांच कराई तो पूरी गड़बड़ी सामने आ गई. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के गृह जिले गोरखपुर में 23,252 क्विंटल का खाद घोटाला उजागर हुआ है।घोटालेबाजों ने नियमों का माखौल उड़ाते हुए फर्जी और काल्पनिक नामों पर बिना आधार कार्ड के खाद की बिक्री कर दी।                         


बीजेपी विधायकों ने योगी पर उठाए सवाल

कई विधायकों ने योगी सरकार पर सवाल खड़े किए हैं


योगी सरकार पर विधायकों ने पक्षपात का आरोप लगाया


लखनऊ। उत्तर प्रदेश में योगी सरकार की कार्यप्रणाली पर योगी के सिपहसालार ही अब सवालिया निशान उठाने लगे हैं। कोई विधायक खुलेआम बयानबाजी कर रहा है तो कोई ट्विटर और अन्य सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर अपनी नाराजगी जाहिर कर रहा है। ऐसा नहीं है कि किसी एक विधायक ने अपनी सत्ताधारी सरकार की कार्यप्रणाली पर सवालिया निशान उठाया हो। ऐसे कई विधायक हैं जिन्होंने पिछले दिनों उत्तर प्रदेश की योगी सरकार पर सवाल खड़े किए। लखीमपुर में हर्ष फायरिंग में हुई मौत के मामले में एक इंस्पेक्टर द्वारा सानू खान नाम के एक आरोपी को बचाने का मामला सुर्खियों में आया तो इस घटना को संज्ञान में लेते हुए योगी के गढ़ गोरखपुर के सदर विधायक डॉक्टर राधा मोहन दास अग्रवाल ने ट्वीट कर पुलिस की कार्यप्रणाली पर सवाल उठाए। उसके कुछ घंटे बाद उत्तर प्रदेश के डीजीपी का कॉल विधायक राधा मोहन दास के पास आया और उस कॉल के बाद दोबारा राधा मोहन दास अग्रवाल ने ट्वीट किया कि मामला डीजीपी के संज्ञान में है, देखना है कि कार्रवाई में क्या प्रगति होती है।           


देश में बारिश का कहर, प्रशासन अलर्ट



नई दिल्ली। मानसून के आने के साथ देशभर में भारी बारिश का दौर जारी है। पिछले 24 घंटे में गोवा, गुजरात, पूर्वी मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र, हिमाचल प्रदेश, तटीय कर्नाटक और असम में हल्की से मध्यम भारी बारिश हुई। मौसम एजेंसियों के मुताबिक, देशभर में अब तक बारिश सामान्य से 4 फीसदी ज्यादा है। देशभर के कई हिस्सों में जलाशय, नदियां और तालाब पानी से लबालब भर चुके हैं। कई राज्यों में भारी बारिश का सितम जारी है। देशभर में नदियां उफान पर हैं। मौसम एजेंसियों के मुताबिक 19 अगस्त के आसपास उत्तरी बंगाल की खाड़ी में कम दबाव का क्षेत्र बनेगा। इसके बाद 20 अगस्त से फिर भारी बारिश शुरू हो जाएगी। एजेंसियों ने 11 राज्यों मध्यप्रदेश, राजस्थान, गुजरात, महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़, तेलंगाना,  पश्चिम बंगाल, गोवा, कर्नाटक, उत्तराखंड और हिमाचल में भारी बारिश का अलर्ट जारी किया है। मौसम विभाग के मुताबिक तेलंगाना में अब तक सामान्य से 38 फीसदी ज्यादा यानी 683.9 मिमी बारिश हो चुकी है। मौसम विभाग के अनुसार 31 राज्यों में सामान्य से ज्यादा बारिश हुई है। 17 राज्य तो ऐसे हैं, जहां सोमवार को सामान्य से 50 फीसदी ज्यादा बारिश हुई। एक जून से अब तक की बात करें तो देश में सामान्य से चार फीसदी ज्यादा बारिश हो चुकी है। भारत में 18 अगस्त तक 612.1 मिमी बारिश होनी चाहिए थी जबकि 639 मिमी बारिश हो चुकी है। गुजरात में मंगलवार को 525 फीसदी ज्यादा बारिश हुई। महाराष्ट्र, गोवा में भी सामान्य से कहीं ज्यादा बारिश दर्ज की गई है। एक जून से 18 अगस्त तक आंकड़ों पर नजर डालें तो अब तक 10 राज्यों में सामान्य से ज्यादा बारिश हुई है। 21 राज्य ऐसे हैं, जहां सामान्य बारिश हुई। जबकि छह राज्यों में अभी तक सामान्य से कम बारिश दर्ज की गई है। 


महाराष्ट्र में 16 फीसदी ज्यादा बारिश 
मौसम विभाग के मुताबिक महाराष्ट्र में इस मानसून जून से अब तक सामान्य औसत से लगभग 16 प्रतिशत अधिक बारिश हुई है। राज्य में एक जून से 17 अगस्त तक 826.7 मिलीमीटर बारिश हुई। पिछले मानसून में इस अवधि के दौरान 713.7 मिलीमीटर बारिश हुई थी। राज्य के 36 में से छह जिलों में एक जून के बाद बड़े पैमाने पर अधिक वर्षा हुई है जबकि यवतमाल, गोंदिया और अकोला में कम वर्षा हुई।मध्यप्रदेश में हो सकती है बाढ़ जैसी स्थिति  
मौसम विभाग के मुताबिक बुधवार को बंगाल की खाड़ी में लो प्रेशर एरिया बनता दिख रहा है। इस वजह से अगले 4-5 दिन भारी बारिश हो सकती है। खासतौर से मध्यप्रदेश में बहुत भारी बारिश की चेतावनी है। अनुमान है कि मध्यप्रदेश में 20 सेंटीमीटर तक बारिश हो सकती है। मौसम विभाग ने आपदा प्रबंधन विभाग को भी सतर्क रहने को कहा है। दिल्ली में हो रही बारिशः दिल्ली-एनसीआर के कई इलाकों में तेज बारिश ने मौसम सुहाना बना दिया है। आज सुबह से दिल्ली, गाजियाबाद, गुरुग्राम आदि इलाकों में हो रही बारिश से सड़कों पर जलजमाव की समस्या भी हो गई है। हरियाणा के आधे से ज्यादा जिलों और दिल्ली व यूपी के कुछ जिलों में मानसून सक्रिय हो गया है। अगले 48 से 72 घंटों में प्रदेश के उत्तरी, पूर्वी और दक्षिण के कुछ जिलों में भारी बारिश होने की बात कही गई थी।                     



हिमाचल में मामलों की संख्या 4,175

शिमला। हिमाचल प्रदेश में बुधवार को कोविड-19 के 13 नए मामले सामने आए, जिससे राज्य में कोरोना वायरस के मामलों की कुल संख्या 4,175 हो गई। अधिकारियों ने यह जानकारी दी। विशेष सचिव (स्वास्थ्य) निपुण जिंदल ने कहा कि राज्य में कोरोना वायरस के 1,313 मरीज उपचाराधीन हैं, जबकि 2,797 मरीज अब तक संक्रमण से उबर चुके हैं। कोविड-19 के कारण राज्य में 18 मरीजों की मौत हो गई है और 40 राज्य से बाहर चले गए हैं। जिंदल ने बताया कि राज्य में सामने आए 13 नये मामलों में से छह सोलन से, तीन चंबा से और दो-दो मामले ऊना और कांगड़ा से आये हैं। इस बीच, सोमवार को 77 मरीज ठीक हुए हैं। चंबा में 21, सिरमौर में 17, मंडी में 12, ऊना में नौ, हमीरपुर में आठ, शिमला में चार और कांगड़ा और बिलासपुर में तीन-तीन लोगों को ठीक होने के बाद अस्पतालों से छुट्टी दे दी गई।                      


केरल में वायरस से ठीक हुए बड़े 'बुजुर्ग'

अकाशुं उपाध्याय


तिरूवनंतपुरम। देश में भले ही कोरोना वायरस संक्रमण के केस बढ़ रहे हों, लेकिन इसके साथ ही संक्रमण से ठीक होने वाले लोगों की रफ्तार भी बढ़ रही है। इनमें हर उम्र के लोग शामिल हैं। इन्‍हीं में से एक हैं केरल के पुरक्‍कट वीटिल फरीद. वह 103 साल के हैं। उन्‍होंने कोरोना संक्रमण को मात दी तो अस्‍पतान ने उन्‍हें अच्‍छे से घर विदा किया। फरीद केरल के अलूवा में रहते हैं। 20 दिन पहले उनकी कोरोना वायरस संक्रमण जांच पॉजिटिव आई थी। इसके बाद उन्‍हें कोच्चि के सरकारी मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल में भर्ती किया गया था। अब वह वहां से पूरी तरह से स्‍वस्‍थ्‍य होने के बाद घर चले गए हैं।                                 


मेघालय में संक्रमित संख्या 1,454 हुई

शिलांंग। आज बुधवार को कोरोना वायरस संक्रमण के 36 नए मामले सामने आने के साथ ही राज्य में संक्रमित लोगों की संख्या बढ़कर 1,454 तक पहुंच गई। नए मामलों में 20 सुरक्षाकर्मी भी शामिल हैं। एक अधिकारी ने यह जानकारी दी। स्वास्थ्य सेवा निदेशक अमन वार ने कहा कि संक्रमण के नए मामलों में से पूर्वी खासी हिल्स में 24, पश्चिमी गारो में सात, री-भोई में तीन और पूर्वी जंतिया हिल्स और दक्षिण पश्चिमी गारो हिल्स में एक-एक मामला सामने आया। उन्होंने कहा, '' नए मरीजों में सीमा सुरक्षा बल के 13 कर्मी और अन्य सशस्त्र बलों के सात कर्मचारी भी शामिल हैं।'' निदेशक के मुताबिक, चार लोगों को संक्रमणमुक्त होने के बाद अस्पताल से छुट्टी दे दी गई, जिसके साथ ही अब तक 683 लोग स्वस्थ हो चुके हैं। राज्य में अब तक छह मरीजों की इस घातक वायरस के कारण मौत हो चुकी है। उन्होंने कहा कि मेघालय में फिलहाल 765 मरीज उपचाराधीन हैं। राज्य में अब तक 43,870 नमूनों की जांच की जा चुकी है।                                


झारखंड में कोरोना ने तोड़े सभी रिकॉर्ड

रांची। झारखंड में कोरोना वायरस संक्रमण के नए मामले लगातार सामने आ रहे हैं। बुधवार को कोरोना वायरस ने प्रदेश में अब तक के सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए। 19 अगस्‍त को राज्य में 1266 नए कोरोना संक्रमित मरीज मिले हैं। इसके साथ ही झारखंड में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 25 हजार के पार हो गई है। जानकारी के मुताबिक, मंगलवार को सबसे ज्यदा रांची और पूर्वी सिंहभूम जिले में कोरोना मरीज मिले हैं। पूर्वी सिंहभूम में 360 तो रांची जिले में 426 पॉजिटिव केस मिले हैं।                                     


धूल और मलबे के बीच से गुजरेगी 'पृथ्वी'



धूल के गुबार और मलबे से भरे रास्ते से कोई भी गुज़रना नहीं चाहेगा। लेकिन कभी-कभी ऐसा कर के आप अचम्भे में पड़ सकते हैं। अगस्त के मध्य में अपनी धुरी पर घूमती पृथ्वी ब्रह्मांडीय मलबे और धूल के बीच से हो कर गुज़रेगी और इस दौरान आसमान रोशनी से जगमगा उठेगा। आसमान में उल्का पिंडों की बौछार, यानी शूटिंग स्टार की शानदार प्रदर्शन देखने का ये अहम मौक़ा होगा और अगर आपकी किस्मत ने साथ दिया तो आपको फायर-बॉल भी दिखेगा।





क्या है परसिड्स? स्विफ्ट-टर्टल नाम का धूमकेतु पृथ्वी की तरह सूरज के चारों तरफ चक्कर काटता है, लेकिन ये चक्कर काटते वक़्त एक ख़ास तरह का एंगल बनाता है। लंदन के ग्रीनविच में मौजूद रॉयल म्यूज़ियम से जुड़े खगोल विज्ञानी एडवर्ड ब्लूमर कहते हैं, "हर साल सूरज के चारों तरफ घूमती हुई पृथ्वी इस धूमकेतु की कक्षा से हो कर जाती है और इस दौरान वो इसके मलबे और धूल की गवाह बनती है।




बर्फ के टुकड़ों, धूल, चावल के दाने के जितने पत्थर के टुकड़ों से भरा ये ब्रह्मांडीय मलबा पृथ्वी के वायुमंडल की ऊपरी परत में प्रवेश करते हैं। ब्लूमर कहते हैं, "वायुमंडल में प्रवेश करते ही ये टुकड़े घर्षण के कारण जलने लगते हैं, भले ही कुछ सेकंड के लिए ये नज़ारा अद्भुत होता है। वो कहते हैं, "परसिड्स उल्का पिंड का बौछार इसलिए ख़ास है क्योंकि ये तय समय पर होता है। जुलाई के आख़िर से ही ये दिखवने लगता है और अगस्त में मध्य में अपने पीक पर पहुंचता है। आप इसे बिना किसी ख़ास चश्मे के आंखों से देख सकते हैं और आप लगातार कई दिनों तक रात के आकाश में इसका मज़ा ले सकते हैं। क्या पता किस रात आपको कुछ ख़ास रोशनी का जलवा दिख जाए। ब्लूमर कहते हैं कि कभी-कभी धूमकेतु का कोई बड़ा हिस्सा भी आपको दिख सकता है और "अगर आप लकी हुए तो आपको फायर बॉल भी दिख सकता है। वो कहते हैं कि दो साल की कोशिशों के बाद वो फायर बॉल की एक झलक पाने में कामयाब हुए थे।




लेकिन उल्का पिंडों को देखने के लिए इतना उत्साह?





ब्लूमर कहते हैं, "बिल्कुल होना ही चाहिए। घर की बत्तियां बुझाइए और कहीं खुले में जा कर इसका आनंद लीजिए।परसिड्स प्राकृति की आतिशबाज़ी की तरह है, और ये आतिशबाज़ी अपने आप में शानदार होती है और कभी-कभी घंटे भर में आपको सौ तक उल्का पिंड दिखते हैं। ये उल्का पिंड 215,000 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से धरती के वायुमंडल में प्रवेश करते हैं लेकिन फिर भी ये धरतीवासियों के लिए किसी तरह का ख़तरा नहीं हैं। ब्लूमर कहते हैं, "खुद के लिए थोड़ा वक्त निकालिए, एक खुली जगह पर चीदर बिछाइए और आसमान को निहारिए।आतिशबाज़ी का ये नज़ारा आपका तनाव भी कम कर देगा।





परसिड्स का मज़ा कैसे लें?




खगोल विज्ञानी एडवर्ड ब्लूमर कहते हैं- आसमान में पूर्व और उत्तर पूर्व की तरफ देखें। अगर आप नक्षत्रों को जानते हैं तो कैसियोपिया नक्षत्र के नज़दीक परसिड्स को ढूंढें। अगर आप इसे नहीं ढूंढ पातो इसके लिए मोबाइल एप की मदद लें।





कोरोना महामारी से पहले तारे देखना थोड़ा आसान था, लेकिन अब भी सोशल डिस्टेन्सिंग का पालन करते हुए आप ऐसा कर सकते हैं। जहां से आप आकाश देखना चाहते हैं उस जगह की तलाश शाम से ही कर लें। वहां चादर बिछाएं और आराम से रात होने का इंतज़ार करें। आसपास लाइटें हों तो बंद कर दें, अपने मोबाइल फ़ोन को भी बंद करे या फिर लाइट पॉल्यूशन करने वाली कोई और चीज़ आसपास हो तो उसे बंद करें। अब प्रकृति के अद्भुत नज़ार का आनंद लें। आपको घंटे भर में क़रीब सौ उल्का पिंड तो दिखेंगे ही, हो सकता है कि आपको फायर बॉल भी दिख जाए।


परसिड्स का नाम क्यों है ख़ास?





ब्लूमर बताते हैं, "उल्का पिंड की ये बौछार परसियस नक्षत्र से आती दिखती है इस कारण इसे परसिड्स कहते हैं। लेकिन इस तरह की बौछार पहले भी कई अलग-अलग संस्कृतियों में देखी गई है। कैथोलिक परंपरा में रोम शहर के सात अहम चर्च अधिकारियों में से एक लॉरेन्टियस की याद में इसे 'टीयर्स ऑफ़ सेंट लॉरेन्स' यानी संत लॉरेन्स के आंसू कहा गया है। 258 ईस्वी में रोमन्स ने जिन ईसाईयों को मार दिया था उनमें से एक संत लॉरेन्टियस भी थे। कहा जाता है कि 10 अगस्त को इस संत को मारने के लिए उन्हें ज़िंदा आग के ऊपर रख दिया गया था। भूमध्यसागरीय इलाक़ों में प्रचलित लोककथाओं की मानें तो साल के इस दौरान दिखने वाले उल्का पिंड उसी आग के निशान हैं जो आसमान में बिखरते दिखते हैं। लेकिन रोमन से पहले पर्शिया, बेबीलोन, मिस्र, कोरिया और जापान में ऐसे सही खगोलीय रिकॉर्ड मिले हैं जो उल्का पिंडों की बौछार के बारे में विस्तार से बताते हैं। माना जाता है कि परसिड्स के नज़ारे का सबसे पहला उल्लेख चीन के हान राजवंश के दौर में मिलता है। 36 ईस्वी के उस दौर खगोल शास्त्रियों ने लिखा था कि पूरी रात आकाश में "सौ से अधिक उल्का पिंड देखे गए थे।               




जमीर इजराइल को स्वीकार नहीं करेगा



इस्लामाबाद। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान ख़ान ने इसराइल के साथ द्विपक्षीय रिश्ते स्थापित करने की किसी भी संभावना होने से इनकार किया है। उन्होंने कहा कि उनका ज़मीर कभी इसराइल को स्वीकार नहीं कर सकता। हाल ही में इसराइल और संयुक्त अरब अमीरात के बीच ऐतिहासिक समझौते के संदर्भ में उन्होंने यह बात की। दोनों देशों ने सामान्य द्विपक्षीय रिश्ते बहाल कर दिए हैं।






पाकिस्तान के एक निजी चैनल 'दुनिया' को दिए इंटरव्यू में इमरान ख़ान ने इसराइल को लेकर पूछे गए सवाल के जवाब में कहा, "इसराइल पर हमारा रुख़ एकदम साफ़ है। पाकिस्तान इसराइल को मान्यता नहीं दे सकता। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने कहा, "क़ायद-ए-आज़म मोहम्मद अली जिन्ना ने 1948 में साफ़ कर दिया था कि हम इसराइल को तब तक तस्लीम नहीं कर सकते जब तक कि फ़लस्तीनियों को उनका हक़ नहीं मिलता। फ़लस्तीनियों की टू नेशन थ्योरी थी कि उन्हें उनका देश मिले। यह फ़ैसला होने से पहले ही अगर हम इसराइल को स्वीकार कर लेते हैं तो कश्मीर की भी ऐसी ही स्थिति है, हमें वो मुद्दा भी छोड़ देना चाहिए। इसलिए पाकिस्तान कभी इसराइल को स्वीकार कर नहीं कर सकता।






इमरान ख़ान ने कहा, "इंसान अल्लाह को जवाबदेह है। आप जब इसराइल और फ़लस्तीन की बात करते हैं, तो सोचना चाहिए कि हम अल्लाह को क्या जवाब देंगे। जिन लोगों पर हर क़िस्म की ज़्यादतियां हुई हैं, जिनके सारे हक़ छीन लिए गए, क्या हम उनको यूं ही बेसहारा छोड़ सकते हैं? मेरा तो ज़मीर ऐसा करने के लिए कभी नहीं मानेगा। मैं इसे कभी स्वीकार नहीं कर सकता।             




शिक्षा मंत्रालय को राष्ट्रपति की मंजूरी मिली



नई दिल्ली। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने मानव संसाधन विकास मंत्रालय का नाम बदलकर शिक्षा मंत्रालय करने को मंजूरी दे दी है। यह जानकारी एक आधिकारिक अधिसूचना में दी गयी है। नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति (एनईपी) के मसौदे में मंत्रालय का नाम बदलने समेत कई अहम सिफारिशें की गई थीं। पिछले ही महीने केंद्रीय मंत्रिमंडल ने इस नीति को मंजूरी दी थी। सोमवार रात प्रकाशित गजट अधिसूचना में कहा गया है कि राष्ट्रपति ने मानव संसाधन विकास मंत्रालय का नाम बदलकर शिक्षा मंत्रालय करने को मंजूरी दे दी है। अधिसूचना के अनुसार, अब मानव संसाधन विकास मंत्रालय के स्थान पर शिक्षा मंत्रालय लिखा जाएगा। शिक्षा मंत्रालय का नाम 1985 में तत्कालीन प्रधानमंत्री राजीव गांधी के कार्यकाल में बदलकर मानव संसाधन विकास मंत्रालय कर दिया गया था। इसके अगले साल एनईपी लायी गई थी और उसे 1992 में संशोधित किया गया था। पी वी नरसिम्हा राव, राजीव गांधी मंत्रिमंडल में पहले मानव संसाधन विकास मंत्री बने थे।               



बिना संसद चलें, देश कैसे चल रहा है ?

मोदी सरकार बिना संसद चलाए देश कैसे चला रही है? - पूर्व जज जस्टिस एपी शाह


नई दिल्ली। कोविड महामारी के समय हमारी संसद न सिर्फ़ बंद रही बल्कि उसने लोगों का नेतृत्व भी नहीं किया। मनमाने तरीक़े से काम करने की सरकार को अब छूट मिल गई है। उनके ख़िलाफ़ सवाल उठाने का कोई भी संस्थागत तरीक़ा अब नहीं बचा है। ये कहना है पूर्व जज जस्टिस एपी शाह का जिन्होंने रविवार यानी 16 अगस्त से शुरू हुए छह दिवसीय जनता संसद में ये बातें कही।


संबंधितः गांधी ने कहा, किसी ग़ैर-गांधी को संभालना चाहिए कांग्रेस का नेतृत्व - प्रेस रिव्यू


देश के कई सामाजिक संगठनों और एकेडमिशियन ने इस कार्यक्रम का आयोजन किया है। इसमें लोग ऑनलाइन हिस्सा ले सकते हैं। कोरोना महामारी की वजह से संसद के बजट सत्र की अवधि कम कर दी गई है। संसदीय समिति दो महीने से काम नहीं कर रही और संसद का मॉनसून सत्र भी जुलाई के मध्य से शुरू होना चाहिए था लेकिन नहीं हो सका है। इस कार्यक्रम के आयोजकों का मानना है कि कोरोना महामारी की वजह से चूंकि संसद नहीं चल रही है इसलिए सरकार से जवाबदेही मांगना कठिन हो गया है। इस मक़सद से ही वर्चुअल जनता संसद का आयोजन किया गया है। जनता संसद के उद्घाटन सत्र में जस्टिस एपी शाह, सामाजिक कार्यकर्ता सैयदा हमीद, सोनी सोरी और गुजरात से विधायक जिग्नेश मेवानी ने हिस्सा लिया।


ऑनलाइन क्यों नहीं चल सकती संसद?


जस्टिस एपी शाह ने इस मौक़े पर कहा, "संसद का बजट सत्र जनवरी में हुआ था। उसके बाद कोविड के कारण यह फ़ैसला लिया गया कि संसद को अनिश्चितकाल के लिए स्थगित किया जाएगा लेकिन इस संकट के वक़्त भी कई दूसरे देशों में हमने संसद को काम करते देखा है। कनाडा और ब्रिटेन जैसे देशों की संसद ने अपने काम करने के तरीक़ों में बदलाव करते हुए वीडियो कॉन्फ्रेंस के ज़रिए सत्र आयोजित किए हैं। कुछ देशों में इंटरनेट के माध्यम से वोट करके यह भी निश्चित किया गया है कि संसद की कार्यवाही चलती रहे।


"फ़्रांस, इटली, और चिली जैसे देशों में संसद की कार्यवाही चलाई गई है। स्पेन जैसा देश जहाँ पर महामारी का असर ज़्यादा है, वहाँ संसद की कार्यवाही जारी है। मालदीव में एक सॉफ़्टवेयर की मदद से वीडियो कॉन्फ़्रेंसिंग कर संसद का काम चल रहा है। वहाँ के स्पीकर ने कहा है कि संसद अपने लोगों का प्रतिनिधित्व करना कभी ख़त्म नहीं कर सकती फिर चाहे महामारी का वक़्त ही क्यों न हो।         


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

यूनिवर्सल एक्सप्रेस   (हिंदी-दैनिक)



 अगस्त 20, 2020, RNI.No.UPHIN/2014/57254


1. अंक-06 (साल-02)
2. बृहस्पतिवार, अगस्त 20, 2020
3. शक-1943, भाद्रपद, शुुुक्ल-पक्ष, तिथि- दूज, विक्रमी संवत 2077।


4. सूर्योदय प्रातः 05:27, सूर्यास्त 07:12


5. न्‍यूनतम तापमान 23+ डी.सै.,अधिकतम-35+ डी.सै.। आद्रता बनी रहेगी।


6.समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है।
7. स्वामी, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहींं है।


8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102।


9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.,201102


www.universalexpress.in


https://universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
संपर्क सूत्र :-935030275


(सर्वाधिकार सुरक्षित)                               




अभियान, सैकड़ों अरब डॉलर की परियोजनाएं: मंजूर

वाशिंगटन डीसी। दुनिया के सबसे संपन्न सात देशों (जी 7) के शिखर सम्मेलन में शनिवार को चीन मुख्य मुद्दा रहा। चीन की विस्तारवादी नीतियों के खिला...