शनिवार, 31 अगस्त 2019

दुल्हन बनाकर नेपाली युवतियों की तस्करी

काठमांडू। नेपाल पुलिस नें दुल्हन तस्करी गिरोह का भंडाफोड़ किया है और इस मामले में 10 लोगों को गिरफ्तार किया है। इनमें चार चीन के नागरिक भी शामिल हैं।


चार चीनी नागरिकों को त्रिभुवन अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे से गिरफ्तार किया गया है। जिन लोगों को गिरफ्तार किया गया है। उनकी पहचान जेन शियेंगडॉन, झांग डोंगहुई, क्वांग झांग पेंग, क्विन लियांग के रूप में हुई है जो ह्यूबी प्रांत के निवासी हैं।वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ईश्वर बाबू कार्की ने बताया कि अन्य नेपालियों की पहचान रीना तमांग बिबी रमानी, पर्बती गुरुंग, अमृता गुरुंग, उषा घिमिरे, रोज तमांग, भारत तमांग के रूप में हुई है। उन्होंने बताया कि ये लोग नेपाली महिलाओं और युवतियों की तस्करी कर उन्हें चीन में दुल्हन बनाकर भेजते थे। उन्होंने बताया कि सबसे पहले उन्होंने दो चीनी नगरिको क्वैन और क्विन को दो नेपाली दुल्हनों के साथ बुधवार को त्रिभुवन राष्ट्रीय हवाईअड्डे से शक के आधार पर बुधवार को गिरफ्तार किया और उनसे हुई पूछताछ में रैकेट का पता लगा। इसके बाद त्वरित कार्रवाई करते हुए आठ अन्य लोगों को गिरफ्तार किया गया और पांच पीड़ितों को बचा लिया गया।उन्होंने बताया कि नेपाली तस्कर जो चीन के लिए काम करते हैं वो युवतियों और महिलाओं को चीन में नौकरी दिलाने का प्रलोभन देकर इनकी तस्करी करते हैं। ये महिलाएं दूरस्थ क्षेत्रों से आती है। यह दुल्हन खरीदने की प्रथा के अंतर्गत आता है और यह चलन चीन में प्रचलित है। नेपाल के लोग स्वयं अपनी पत्नी को कुछ पैसों के लिए चीनी लोगों को बेच देते हैं।


वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने बताया कि चीनी लोग दस लाख रुपये में नेपालियों से दुल्हन खरीदते हैं। यह लड़कियां अनपढ़ और गरीब परिवारों की होती हैं पर देखने में सुंदर होनी चाहिए। जिन युवतियों और महिलाओं की तस्करी की जाती है। उनमे अधिकाँश कास्की, चितवन, सुनसारी और लाम जंग जिलों से आती है। एक नेपाली ने तोखा में मकान किराये पर ले रखा है जहां इन लड़कियों को चीनी नागरिकों की सही दुल्हन बनने के लिए प्रशिक्षित किया जाता है। दूल्हे को नकली दुल्हन के दस्तावेज तैयार करने से पहले अपनी भावी दुल्हन से वीडियो चैट पर बात कराई जाती है। इस दौरान पुलिस ने 12 मोबाइल फोन, 22 लाख नेपाली रुपये और अन्य विदेशी मुद्राएं जब्त की हैं।


सार्वजनिक क्षेत्र में बैंक मुनाफे में सुधार

नई दिल्ली। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने शुक्रवार को कहा कि सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के मुनाफे में सुधार हुआ है।  बैंक का कुल फंसा कर्ज (एनपीए) दिसंबर 2018 के अंत में 8.65 लाख करोड़ रुपये से घटकर मार्च 2019 अंत में 7.9 लाख करोड़ रुपये रह गया।वित्त मंत्री ने कहा कि आंशिक ऋण गारंटी योजना के क्रियान्वयन से गैर बैंकिंग वित्तीय कंपनियों (एनबीएफसी) और आवास वित्त कंपनियों के लिए पूंजी आधार में सुधार आया है। 3,300 करोड़ रुपये की पूंजी डाली जा चुकी है और अतिरिक्त 30,000 करोड़ रुपये देने की तैयारी है। 
सीतारमण ने अर्थव्यवस्था को लेकर उठाए कदमों की घोषणा करने के लिए अपने दूसरे संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि  सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों में शुरू किए गए सुधारों का परिणाम दिखने लगा है। 2019-20 की पहली तिमाही में उनमें से 14 बैंकों ने मुनाफा दर्ज किया है। उन्होंने कहा कि सरकारी बैंकों में नीरव मोदी जैसी धोखाधड़ी रोकने के लिये स्विफ्ट संदेशों को कोर बैंकिंग प्रणाली से जोड़ा गया है।


पाकिस्तान द्विपक्षीय वार्ता के लिए तैयार

परमाणु हमले की धमकी देने वाला पाकिस्तान अब भारत से द्विपक्षीय वार्ता को तैयार। 
तो क्या इमरान खान पीओके देने को तैयार हैं?



जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 को हटाए जाने के बाद से पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान लगातार परमाणु हमले की धमकी दे रहे हैं। 25 दिनों में पांच बार ऐसी धमकी दी जा चुकी है। इमरान के एक मंत्री ने तो अक्टूबर-नवम्बर में भारत पर हमले की बात भी कही। लेकिन 31 अगस्त को पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह मेहमूद कुरैशी का बयान सामने आया है। कुरैशी का कहना है कि पाकिस्तान भारत के साथ द्विपक्षीय वार्ता को तैयार है। कुरैशी ने कहा कि पाकिस्तान ने कभी भी भारत के साथ वार्ता से इंकार नहीं किया है। अभी यह पता नहीं चला कि कुरैशी कश्मीर मुद्दे पर अब भारत के साथ किन बिन्दुओं पर वार्ता करेंगे। लेकिन विगत दिनों इमरान खान ने कहा था कि अनुच्छेद 370 को हटाए जाने के बाद भारत के साथ वार्ता करने का कोई मतलब नहीं रहा है। इसके जवाब में भारत की ओर से कहा गया कि जब कभी पाकिस्तान के साथ वार्ता होगी तो पाक के कब्जे वाले कश्मीर के मुजफ्फराबाद को वापस लेने की होगी। सवाल उठता है कि अब जब पाकिस्तान द्विपक्षीय वार्ता को तैयार है तो क्या इमरान खान पीओके को वापस भारत को देने के लिए तैयार हैं? 1947 में विभाजन के समय जम्मू कश्मीर के तत्कालीन राजा हरि सिंह ने सम्पूर्ण राज्य का विलय भारत में किया था। लेकिन धोखाधड़ी कर पाकिस्तान ने जम्मू कश्मीर के मुजफ्फाराबाद पर कब्जा कर लिया। हालांकि विभाजन के बाद से ही पाकिस्तान जम्मू कश्मीर को आजाद करने का हिमायती रहा है। भारत में बनने वाली सरकारों ने भी पाकिस्तान के दबाव में अनुच्छेद 370 के प्रावधान लागू करने में कोई कसर नहीं छोड़ी। इस अनुच्छेद के प्रावधानों की वजह से ही जम्मू कश्मीर में भारत के कानून लागू नहीं हो सके। अब जब अनुच्छेद 370 का प्रभाव खत्म हो गया है तो जम्मू कश्मीर में भी भारत के कानून लागू हो रहे हैं। अब लद्दाख को अलग राज्य बनाकर जम्मू कश्मीर को केन्द्र शासित प्रदेश बना दिया गया है। यही वजह हेै कि पांच अगस्त के बाद से कश्मीर घाटी में सुरक्षा बलों को एक बार भी गोली नहीं चलानी पड़ी है। हालांकि घाटी में अभी भी अनेक पाबंदियां लगी हुई, लेकिन हालात धीरे धीरे सामान्य हो रहे हैं। पहले पाकिस्तान को घाटी में हिंसक घटनाओं का इंतजार था, लेकिन अब जब 25 दिन गुजर गए हैं, तो पाकिस्तान को भी अहसास हो गया है कि अब कश्मीर घाटी में भी भारत सरकार का पूरी तरह नियंत्रण हो गया है। यही वजह है कि अब पाकिस्तान की ओर से द्विपक्षीय वार्ता की बात कही जा रही है। 
एस.पी.मित्तल


अजमेर के नेता कुछ तो शर्म करें..

बीसलपुर बांध के पानी से भरा जाएगा आमेर का मावठा (तालाब)।
ताकि पर्यटक आकर्षित हो सकें। अजमेर के राजनेता कुछ तो शर्म महसूस करें। 

राज्य सरकार ने एक बड़ा फैसला लेते हुए जयपुर के निकट आमेर किले के मावठा (तालाब) को बीसलपुर बांध के पानी से भरने के निर्देश जारी किए हैं। यानि कोई सवा सौ किलोमीटर दूर बीसलपुर बांध से पाइप लाइन के जरिए पानी खींच कर मावठा में डाला जाएगा। वैैसे तो आमेर के किले में बनी झील प्राकृतिक है और पूर्व में बरसात के पानी से भर जाती थी, लेकिन लोगों ने बरसात के पानी आने के रास्तों पर अवैध कब्जा कर लिया, इसलिए बरसात में भी झील में पानी नहीं आया है। इससे आमेर आने वाले पर्यटक भी मायूस होते हैं। चूंकि आमेर में पर्यटन ही रोजगार का मुख्य साधन है, इसलिए आमेर के जनप्रतिनिधियों ने एकजुट होकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पर दबाव बनाया और मावठा को बीसलपुर बांध के पानी से भरने का आदेश करवा लिया। चूंकि मावठा तक पाइप लाइन बिछी हुई है, इसलिए बीसलपुर का पानी आने में कोई परेशानी नहीं होगी। आमेर वाली पाइप लाइन को जयपुर शहर वाली लाइन से सिर्फ जोडऩा है। जब आमेर तक बीसलपुर का पानी आ ही जाएगा तो फिर घरों में भी सप्लाई हो जाएगी। यानि मावठा के बाद घरों में सप्लाई की मांग होगी। चूंकि आमेर के जनप्रतिनिधि जागरुक और एकजुट हैं, इसलिए सब संभव है। सरकार के फैसले के बाद आमेर में जश्र का माहौल है। 31 अगस्त को नागरिकों ने जनप्रतिनिधियों के साथ जश्न मनाया। मालूम हो कि इस बार बीसलपुर बांध में क्षमता के अनुरूप 315.50 मीटर पानी आ गया है। इन दिनों तो अतिरिक्त पानी को गेट खोलकर बांध से बाहर निकाला जा रहा है।
शर्म करें अजमेर के जनप्रतिनिधि : 
बीसलपुर बांध से ही अजमेर जिले में पेयजल की सप्लाई होती है। चूंकि जयपुर के मुकाबले में अजमेर के जनप्रतिनिधि राजनीतिक दृष्टि से कमजोर रहते हैं, इसलिए अजमेर को लेकर कोई योजना नहीं बनाई जाती। वर्ष 2016 में हिन्दुओं के तीर्थ पुष्कर के पवित्र सरोवर के कुंडों में बीसलपुर बांध के पानी को डालने की योजना बनाई थी, लेकिन श्रद्धालु कम से कम पूजा अर्चना तो कर सके, लेकिन यह योजना मुश्किल से एक माह में फेल हो गई। 2016 में पुष्कर मेले के दौरान तो पानी डाला गया, लेकिन इसके बाद आज तक भी सरोवर में बीसलपुर का पानी नहीं आया। यानि सरकार आमेर में पर्यटकों के लिए तो मावठा को भर सकती है, लेकिन श्रद्धालुओं के लिए पुष्कर सरोवर में पानी नहीं डाला जा सकता। जयपुर में अधिक से अधिक क्षेत्रों में पेयजल की सप्लाई की योजनाएं लगातार बन रही है। अब तो जयपुर के बाद दौसा में भी बीसलपुर का पानी पहुंच गया है, जबकि अजमेर शहरी क्षेत्रों में अभी भी दो दिन में एक बार सप्लाई की जा रही है। ग्रामीण क्षेत्रों का तो और भी बुरा हाल है। 2014 से लेकर 2018 तक अजमेर से लेकर जयपुर और दिल्ली  तक भाजपा का एक छत्र राज था। जिले के 7 में से 4 भाजपा विधायक मंत्री स्तर की सुविधा भोग रहे थे। ओंकर सिंह लखावत, शिवशंकर हेड़ा जैसे भाजपा नेताओं का प्राधिकरण का अध्यक्ष होने के नाते राज्य मंत्री की सुविधा मिली हुई थीं, लेकिन इसके बावजूद भी पेयजल के विस्तार की कोई योजना नहीं बनी। जिले के सबसे बड़े उपखंड ब्यावर में भी पानी की त्राहि-त्राहि मची रही। असल में इन भाजपा नेताओं में इतनी हिम्मत नहीं थी कि मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के सामने अजमेर की मांग रख सके। कमोबेश अब यही स्थिति कांग्रेस के नेताओं की है। हालांकि केकड़ी के विधायक रघु शर्मा कांग्रेस सरकार में ताकतवर मंत्री हैं, लेकिन अजमेर जिले के विकास में शर्मा को रुचि कमजोर है। कांग्रेस के दूसरे विधायक राकेश पारीक सेवादल के प्रदेशाध्यक्ष होने के नाते अपने निर्वाचन क्षेत्र मसूदा में ही ध्यान नहीं दे पाते हैं। किशनगढ़ के निर्दलीय विधायक  सुरेश टाक सरकार को समर्थन दे रहे हैं, लेकिन टाक उनकी सोच किशनगढ़ तक ही सीमित हैं। यूं तो भाजपा के पांच विधायक है, लेकिन अब ये विपक्ष में हैं। विधानसभा में चिल्लाने के अलावा कुछ भी नहीं कर पाते हैं। विकास के मुद्दे पर अजमेर के कांग्रेस और भाजपा के विधायक सांसद और अन्य जनप्रतिनिधि कभी भी एक नहीं  दिखें। 
एस.पी.मित्तल


राजस्थान कांग्रेस में असमंजस बरकरार

कांग्रेस के मौजूदा हालातों में क्या सचिन पायलट को राजस्थान प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष पद से हटाया जा सकता है? अविनाश पांडे की सोनिया गांधी से मुलाकात के बाद अटकलें। 

राजस्थान के प्रभारी महासचिव अविनाश पांडे ने कॉन्ग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीमती सोनिया गांधी से दिल्ली में मुलाकात की। इस मुलाकात के बाद पांडे ने कहा कि प्रदेश में होने वाले स्थानीय निकायों और पंचायतीराज के चुनावों को लेकर विचार विमर्श हुआ। पांडे ने माना कि प्रदेशाध्यक्ष के पद को लेकर भी बात हुई है। सूत्रों की माने तो सोनिया गांधी ने प्रदेशाध्यक्ष को लेकर पांडे के साथ लम्बी मंत्रणा की है। असल में मौजूदा प्रदेशाध्यक्ष सचिन पायलट राज्य सरकार में डिप्टी सीएम की जिम्मेदारी भी निभा रहे हैं। लोकसभा चुनाव में प्रदेश की सभी 25 सीटों पर हार के बाद कांग्रेस में एक व्यक्ति एक पद की मांग उठने लगी। अब जब श्रीमती सोनिया गांधी फिर से राष्ट्रीय अध्यक्ष बन गई है तो मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की स्थिति को और मजबूत माना जा रहा है। हालांकि प्रदेशाध्यक्ष के मुद्दे पर गहलोत ने सीधे तौर पर कोई टिप्पणी नहीं की है। गहलोत ने सिर्फ इतना ही कहा है कि यह काम राष्ट्रीय नेतृत्व के देखने का है। सब जानते हैं कि गहलोत एक मजे हुए राजनीतिज्ञ हैं। विपरीत परिस्थितियों को भी अपने पक्ष में करना जानते हैं। सचिन पायलट और उनके समर्थकों के लाख दबाव के बाद भी राजनीतिक नियुक्तियां नहीं की गई है। गत 19 अगस्त को पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के समारोह में पायलट ने प्रदेशाध्यक्ष की हैसियत से कार्यकर्ताओं की पीड़ा भी मुख्यमंत्री के सामने रखी। तब भी यही लगा कि दोनों के बीच मन मुटाव तो है ही। लेकिन सवाल उठता है कि क्या मौजूदा हालातों में पायलट को प्रदेशाध्यक्ष के पद से हटाया जा सकता है? प्रदेश में नवम्बर में कुछ स्थानीय निकायों तथा फिर जनवरी में पंचायतीराज के चुनाव होने हैं। पायलट गत पांच वर्ष से प्रदेशाध्यक्ष के पद पर विराजमान हैं। यही वजह है कि पायलट ने सभी जिलाध्यक्षों के पद पर अपने चहेतों की नियुक्ति कर रखी हैं। यानि संगठन पर पूरी तरह पायलट का कब्जा है। लेकिन सब जानते हैं कि कार्यकर्ता की वफादारी सत्ता के साथ होती है। चूंकि मुख्यमंत्री की कुर्सी पर अशोक गहलोत बैठे हैं, इसलिए मानसिकता बदलने में ज्यादा समय नहीं लगेगा। वैसे भी गहलोत की मिलन सारिता का कोई मुकाबला नहीं है। गहलोत पहले ही कह चुके हैं कि तीन बार प्रदेशाध्यक्ष और चार बार केन्द्रीय मंत्री रहने के बाद उन्हें मुख्यमंत्री बननने का अवसर मिला था। अब गहलोत तीसरी बार मुख्यमंत्री बने हैं। यदि सचिन पायलट से प्रदेशाध्यक्ष के पद से हटाया जाता है तो यह कांग्रेस के बड़ी बात होगी। सवाल यह भी है कि क्या पायलट को डिप्टी सीएम और प्रदेशाध्यक्ष के पदों में से एक पद चुनने की छूट दी जाएगी? सूत्रों की माने तो पायलट प्रदेशाध्यक्ष के पद का चयन करेंगे? क्योंकि भविष्य में प्रदेशाध्यक्ष ही मुख्यमंत्री की कुर्सी पर पहुंच सकता है। कांग्रेस के दिल्ली दरबार में एप्रोच रखने वालों का मानना है कि पायलट को ऐसी छूट नहीं मिलेगी। यानि पायलट सिर्फ डिप्टी सीएम ही बने रहेंगे। पायलट को अपनी राजनीति डिप्टी सीएम के पद से ही चलानी होगी। यह भविष्य ही बताएगा कि पंचायतीराज पीडब्ल्यूडी, आईटी आदि विभागों के मंत्री रह कर पायलट अपनी राजनीति को कितना चला पाएंगे। पर इतना जरूर है कि आने वाले दिनोंमें कांग्रेस की राजनीति में अशोक गहलोत की एक छत्र चलेगी। 
एस.पी.मित्तल


एनआरसी की जरूरत (संपादकीय)

एनआरसी की जरूरत तो अजमेर में भी है। कई बार पकड़े गए हैं बांग्लादेशी।


नई दिल्ली। गृह मंत्रालय ने असम में नेशनल रजिस्ट्रर ऑफ सिटीजंस की लिस्ट जारी की तो दिल्ली में भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष सांसद मनोज तिवारी ने भी दिल्ली में भारतीय नागरिकता की पहचान करवाने की मांग की। तिवारी ने कहा कि दिल्ली में भी बड़ी संख्या में बांग्लादेशी  एवं अन्य विदेशी नागरिक रह रहे हैं। संभवत: भारत अकेला ऐसा मुल्क होगा, जहां किसी देश का नागरिक धड़ल्ले से रह सकता है। हमारे यहां वोट के खातिर रोहिंग्याओं के समर्थक भी बैठे हैं। मनोज तिवारी की मांग बताती है कि देश की राजधानी में घुसपैठिए मौजूद हैं। जहां तक अंतर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त अजमेर का सवाल है तो अजमेर के दरगाह क्षेत्र से कई बार बंग्लादेश के नागरिकों को पकड़ा गया है। माना जाता है कि दरगाह क्षेत्र के आवासीय इलाकों में बड़ी संख्या में बांग्लादेशी औरतें और पुरुष श्रमिक के तौर पर काम करते हैं। कई बार ऐसे श्रमिकों को पकड़ कर पुलिस सीमा पार भेजती भी है। अजमेर से कई कुख्यात अपराधी और ड्रग तस्कर भी पकड़े गए हैं। पुलिस प्रशासन अभियान चला कर ऐसे लोगों की धरपकड़ करता है, लेकिन वोट की राजनीति के चलते कई विदेशियों ने मतदाता पहचान पत्र, पेन कार्ड और आधार कार्ड तक बनवा लिए हैं। सस्ती दर पर गेंहू आदि सामग्री लेने के लिए भले ही मात्र गरीबों के पास बीपीएल कार्ड न हो, लेकिन बाहर से आए लोग ऐसे कार्ड हासिल करने में सफल हो गए। जहां तक प्राइवेट अस्पतालों में मुफ्त इलाज के लिए भामाशाह स्वास्थ्य कार्ड भी बनवा लिया है। कई विदेशी नागरिक तो धड़ल्ले से वृद्धावस्था पेंशन तक ले रहे हैं। राजनीतिक संरक्षण की वजह से अजमेर की पहाडिय़ों पर ऐसे लोगों ने पक्के मकान भी बना लिए हैं। गंभीर बात तो यह है कि इन अवैध मकानों में बिजली, पानी, सड़क आदि की सुविधा भी उपलब्ध करवा दी गई है। यानि भारतीय नागरिकता के लिए जो दस्तावेज चाहिए वो सब विदेशी नागरिकों ने हासिल कर लिए हैं। भाजपा जब विपक्ष में होती है तो अजमेर में बांग्लादेशी नागरिकों का मुद्दा उठाती है, लेकिन जब सत्ता में होती है तो भाजपा के नेता चुप हो जाते हैं। सवाल उठता है कि सत्ता में रहते हुए भाजपा नेता विदेशी नागरिकों का मामला क्यों नहीं उठाते हैं? जहां तक कांग्रेस का सवाल है तो कांग्रेस के नेता तो पहले ही एनआरसी जैसे कामों के खिलाफ हैं। 
एस.पी.मित्तल


जापान से रक्षा-सुरक्षा पर चर्चा होगी:राजनाथ

नई दिल्ली। जापान यात्रा के दौरान रक्षा मंत्री जापान के रक्षा मंत्री श्री ताकेशी इवाया के साथ वार्षिक रक्षा मंत्रिस्तरीय संवाद की सह-अध्यक्षता करेंगे। मंत्रिस्तरीय संवाद का उद्देश्य भारत-जापान विशेष सामरिक एवं वैश्विक साझेदारी को मजबूत बनाना है। इसके अलावा दोनों देशों के बीच पारस्परिक रक्षा और सुरक्षा के विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की जाएगी। अपनी यात्रा के दौरान श्री राजनाथ सिंह जापान के प्रधानमंत्री श्री शिंजो आबे से मुलाकात भी करेंगे।


दक्षिण कोरिया में श्री राजनाथ सिंह वहां के राष्ट्रीय रक्षा मंत्री श्री जियोंग केइयोंग-डू के साथ द्विपक्षीय वार्ता करेंगे। वे दक्षिण कोरिया के प्रधानमंत्री श्री ली नाक-योन से भेंट करेंगे। दक्षिण कोरिया की राजधानी सियोल में उद्योग से सरकार (बी2जी) बैठक में दोनों देशों के रक्षा उद्योग के सदस्य शामिल होंगे, जिसमें दोनों देशों के बीच रक्षा उद्योग सहयोग पर वार्ता होगी।


देवी को खुश करने के लिए 'मानव-बलि'

गोरखपुर। कैम्पियर गंज थाना के ग्राम सभा सनगद में पड़ोसी द्वारा एक 8 बर्ष के बच्चे की पूजां के नाम पर देवी माँ को खुश करने के लिए मानव बलि दी गई।


प्राप्त जानकारी के अनुसार ग्राम सनगद के पुद्दन गौंड पुत्र अवधू ने बताया कि मेरे ग्राम के घम्मल चौधरी एक तांत्रिक है। उसने मेरे पुत्र बिपिन 8 बर्ष को अपने नाती गांगुली को भेज कर मेरे घर से बुला के ले गया और अपनी तंत्र विद्या को सिद्ध करने के लिए मेरे पुत्र बिपिन की बलि चढ़ा दी। मृतक के पिता पुद्दन गौंड ने बताया कि यह घटना 5 अगस्त 2019 की है। मेरे घर से गांगुली जो की तांत्रिक घम्मल चौधरी का नाती है, मेरे घर से मेरे पुत्र को बुला कर ले गया। जिसका शाम तक जब कोई पता नही चला तो मेरी पत्नी शांति ने जाकर गांगुली और घम्मल से अपने पुत्र बिपिन की जानकारी लेनी चाहा की आप लोग मेरे पुत्र को बुला कर लाये थे।वह  कहाँ है तो उन लोगों ने कोई भी जानकारी देने से मना कर दिया। बहुत खोज बीन के बाद भी जब कोई पता नही चला तो मेरी पत्नी शांति ने मेरे पास फोन किया। मैं बाहर मद्रास में रह कर मजदूरी करता हूँ वहाँ से आने के बाद 8 अगस्त 2019 को जब मैं थाना कैम्पियरगंज में प्रार्थना पत्र दिया। लेकिन अभी तक न ही थाना इंचार्ज महोदय द्वारा मेरे पुत्र की तलाश की गई। न ही उन दोषियों पर कोई कार्यवाई की गई। थाना कैम्पियर गंज का चक्कर लगा-लगा कर पीड़िता थक गया। लेकिन कोई सुनवाई नही हो रही है। पुलिस तांत्रिक से मिलकर इस मामले को दबाने की कोशिश कर रही है।


मृतक के पिता का मोबाइल नं 6374850852 7755870628


अधीक्षक का जुए-सट्टे के खिलाफ अभियान

अलीगढ़। कासगंज पुलिस द्वारा अवैध जुआ सट्टे के विरुद्ध अभियान जारी, थाना सहावर पुलिस द्वारा अवैध रूप से जुआ खेलते 04 जुआरी गिरफ्तार, कब्जे से 11,000 रुपए नगद व  o 5 चारपहिया व 2 पहिया वाहन बरामद।


पुलिस अधीक्षक कासगंज श्री सुशील धुले के कुशल निर्देशन एवं अपर पुलिस अधीक्षक कासगंज डॉ पवित्र मोहन त्रिपाठी के कुशल मार्गदर्शन में जनपद में अवैध जुए एवं सट्टे के विरुद्ध चलाए जा रहे, विशेष अभियान के क्रम में थाना द्वारा दिनांक 30 अगस्त की रात्रि को मुखबिर खास की सूचना पर ग्राम नाथूपुर में अवैध रूप से हार जीत की बाजी लगाकर जुआ खेल रहे 04 जुआरियों - 1 बृजेश पुत्र हरीराम निवासी मोहल्ला काजी कस्बा व थाना अलीगंज जनपद एटा 2 दिनेश पत्र अनार सिंह निवासी रामपुर थाना निधौली कला जनपद एटा 3 आजाद पुत्र कुंजू निवासी धुमरी थाना जैथरा जनपद एटा 4 - नरेश कुमार पुत्र सुरेंद्र सिंह निवासी रणधीर पुर थाना फरिहा जनपद फिरोजाबाद को गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की गई है । गिरफ्तार अभियुक्तगण के कब्जे से कुल 11000 रुपए नगद व मौके से o5  चार पहिया एवं 03 दो पहिया वाहन बरामद किए गए हैं।


रिपोर्टर-बिपिन कुमार


इतने बेताब, इतने बेकरार क्यूं हैं?

इतने बेताब, इतने बेक़रार क्यूं हैं?
लोग जरूरत से होशियार क्यूं हैं?


मुँह पे तो सभी दोस्त हैं लेकिन
पीठ पीछे दुश्मन हज़ार क्यूं हैं?


हर चेहरे पर एक मुखोटा हैं यारो
बेवजह,ज़हर में डूबे किरदार क्यूं हैं?


सब काट रहे हैं लोग एक दूजे को,
साकी, सभी दोधारी तलवार क्यूं हैं?


सब को, सबकी, हर ख़बर चाहिए,
 रियाज़,चलते-फिरते अखबार क्यूं हैं?

मनोज श्रीवास्तव


गाजियाबाद स्वास्थ्य विभाग में खुला भ्रष्टाचार

गाजियाबाद स्वास्थ्य विभाग का खुला भ्रष्टाचार


अविनाश श्रीवास्तव


गाजियाबाद। प्रदेश की भाजपा सरकार मे भ्रष्टाचार अपने चरम पर पहुंच चुका है। अधिकारियों के द्वारा विभागों में खुली लूट,अवैध व्यापार के साथ खुला भ्रष्टाचार कर दिया गया है। हाल ही में स्वास्थ्य विभाग के द्वारा किए गए लूट और भ्रष्टाचार का मामला प्रकाश में आया है। गाजियाबाद स्वास्थ्य विभाग स्पष्ट तौर पर अवैध व्यापार कर रहा है। जिसके विरुद्ध अभी तक किसी प्रकार की कोई कार्रवाई नहीं हो पाई है। जानकारी के अनुसार नोडल अधिकारी अपर चिकित्सा अधीक्षक आरबी सुमन के नेतृत्व में झोलाछाप, फर्जी चिकित्सकों को शासन एवं चिकित्सा अधिनियम के अनुरूप विभागीय नोटिस जारी किए गए। जिसमें झोलाछाप चिकित्सकों को उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई का हवाला दिया गया। लेकिन वास्तविकता इसके विपरीत है। अपर चिकित्सा अधीक्षक आरबी सुमन एवं सहयोगी टीम के द्वारा झोलाछाप चिकित्सकों से नोटिस के एवज में ₹5000 से ₹15000 प्रति चिकित्सक धन वसूला जा रहा है। नोटिस में वर्णित अधिनियम अनुरूप झोलाछाप चिकित्सकों से एक शपथ पत्र लिया जा रहा है। जिसमें भविष्य में परीक्षण न करने और करते पाए जाने पर कानूनी कार्रवाई संबंधित विषय अंकित है। चिकित्सक इतने भयभीत हो गए हैं कि वे स्वयं शपथ पत्र पर यह प्रतिपादित कर विभाग को रुपयों के साथ दे रहे हैं। जिससे उनका परीक्षण करना समझ-बूझ कर अपराध करने के बराबर है। जबकि यह संपूर्ण प्रक्रिया स्वास्थ विभाग के द्वारा लागू की गई है। जिससे इस अपराध की षड्यंत्र रचना अपर चिकित्सा अधीक्षक आरबी सुमन के द्वारा की गई है। ऐसा नहीं है कि यह षड्यंत्र रचना एक सामान्य रचना है, यदि आप सामान्य तौर पर अनुमान लगाएं तो स्पष्ट होता है कि जनपद में 5000 से अधिक झोलाछाप चिकित्सक परीक्षण कर रहे हैं। जिनको नोटिस जारी करने के बाद स्वास्थ्य विभाग में बैठे अधिकारी स्पष्ट रूप से लूट कर रहे हैं या खुला भ्रष्टाचार कर रहे हैं। झोलाछाप चिकित्सक विभाग के अवैध व्यापार का साधन बन चुके हैं। जिसके अंतर्गत विभाग के द्वारा 5 करोड से भी अधिक अवैध वसूली का अनुमान है। इस पूरे प्रकरण की ठीक-ठीक सूचना मुख्य चिकित्सा अधिकारी को नहीं है। परंतु यह सब उन्हीं के कार्यालय में किया जा रहा है। अभी तक किसी प्रकार की कोई विभागीय कार्रवाई नहीं की गई है। अपर चिकित्सा अधीक्षक आरबी सुमन के द्वारा जो नोटिस जारी किए गए हैं। उनमें किसी प्रकार का कोई पत्र क्रमांक अथवा सीरीज नहीं है। जिससे इस अवैध व्यापार की पोल खुलती है। शासन-प्रशासन को स्वास्थ विभाग के द्वारा किए जा रहे इस अवैध व्यापार के खिलाफ त्वरित कार्रवाई करने की आवश्यकता है।


अभियान में पकड़ा अवैध मादक पदार्थ

स्थानीय स्थानीय पुलिस का बड़ा कारनामा


अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद-लोनी। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक के दिशा-निर्देश में नारकोम अभियान के तहत क्षेत्र अधिकारी राजकुमार पांडे के नेतृत्व में थाना ट्रॉनिका सिटी क्षेत्र अंतर्गत जीवन गेट पर होंडा सिटी गाड़ी को रोककर जांच की गई। जिसमें माजिद और जुनैद मौजूद थे। गाड़ी से 35 किलो 900 ग्राम अवैध गांजा बरामद हुआ है। पुलिस के अनुसार होंडा सिटी गाड़ी का कोई दस्तावेज नहीं था। जिसके चलते गाड़ी सीज कर दिया गया है। अभियुक्‍तो के खिलाफ आवश्यक कार्रवाई की जा रही है। स्थानीय पुलिस युवाओं के प्रति सजग और संवेदनशील है। मादक पदार्थों का सबसे अधिक दुष्प्रभाव युवा पीढ़ी पर ही पड़ता है। कई युवक नशे के आदी हो चुके हैं। जिनका जीवन अत्यंत कष्ट और दुखमय बनता जा रहा है। इसमें प्रशासनिक अधिकारियों की उदारता का भी समावेश है। पुलिस के द्वारा अवैध मादक पदार्थों के विरुद्ध चलाए गए इस अभियान से नशाखोरी पर पूर्ण विराम अंकित हो सकता है।


मथुरा:मंदिर गई युवती का अपहरण,गैंगरेप

मथुरा। उत्तरप्रदेश के मथुरा के थाना कोसीकलां में एक महिला के साथ गैंगरेप करने का मामला सामने आया है। जानकारी के अनुसार महिला शुक्रवार शाम कोकिलावन स्थित शनिदेव मंदिर परिक्रमा करने जा रही थी। तभी गांव के बाहर ही गाड़ी में श्याम सुंदर व लाडली दास महाराज आये और उन्होंने महिला को गाड़ी में बैठने और मंदिर ले चलने के लिए कहा। महिला ने जब मना किया तो इन लोगों ने महिला को जबरदस्ती गाड़ी में बिठा लिया और सुनसान इलाके में ले जाकर बारी-बारी से बलात्कार किया। महिला का कहना है कि इसके बाद 2 लोग मोटरसाइकिल पर आए उन्होंने भी उसकी इज्जत से खिलवाड़ किया। महिला के पति ने बताया कि गांव के ही एक टेम्पो वाले ने उसे इसकी जानकारी दी तब ये लोग थाने पहुंचे, लेकिन वहां रात में कोई कार्रवाई नहीं हुई। मामले में एसएसपी शलभ माथुर ने कहा कि शुक्रवार रात को ये सूचना दी गई थी, जिसके बाद मामला दर्ज कर लिया गया है। पीडि़ता द्वारा बताया गया है कि पूर्व से परिचित व्यक्ति और उनके दो दोस्तों ने ये कृत्य किया है। महिला को मेडिकल के लिए भेज दिया गया है, जांच की जा रही है।


7 को जटिल प्रक्रिया से गुजरेगा चद्रंयान-2

नई दिल्ली। चंद्रयान-2 चंद्रमा के और करीब पहुंच गया है। चंद्रयान-2 शुक्रवार (30 अगस्त) को शाम 6 बजकर 18 मिनट पर चंद्रमा की चौथी कक्षा में सफलतापूर्ण प्रवेश कर गया। चंद्रयान-2 चंद्रमा के दक्षिण ध्रुव पर 7 सितंबर को सॉफ्ट लैंडिंग को लेकर कई जटिल प्रक्रियाओं से गुजरेगा। बेंगलुरु में सात सितंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ प्रत्येक राज्य के दो बच्चे चंद्रयान-2 को चांद की सतह पर उतरते देखेंगे।


जानकारी के मुताबिक, अब एक सितंबर को चंद्रयान चंद्रमा की अगली कक्षा में प्रवेश करेगा और दो सितंबर को लैंडर विक्रम कॉम्पजिट बॉडी से अलग हो जाएगा। इसके बाद 7 सितंबर की देर रात करीब 1 बजकर 55 मिनट पर चांद पर उतरेगा। पीएम मोदी बेंगलुरु में  चंद्रयान-2 को चांद की सतह पर उतरते देखेंगे। उनके साथ कई छात्रों को भी इस ऐतिहासिक नजारे को देखेने का मौका मिलेगा।इन छात्रों का चयन ऑनलाइन क्विज कार्यक्रम को जीतने के बाद किया गया है। प्रत्येक राज्य के दो छात्रों को ऑनलाइन क्विज के आधार पर आयोजन के लिए चुना जा रहा है।उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ स्थित दिल्ली पब्लिक स्कूल की 10वीं की छात्रा राशि वर्मा, चंद्रमा की सतह पर चंद्रयान-2 को प्रधानमंत्री के साथ उतरते देखने के लिए चुनी गई है। वहीं, झारखंड के दो विद्यार्धी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ चंद्रयान-2 को लाइव उतरता देखेंगे। इनमे डीपीएस रांची के 10वीं के छात्र प्रणव पराशर और संत थॉमस स्कूल की छात्रा (नौवीं कक्षा) मृदुला कुमारी है।आपको बता दें भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने 22 जुलाई को चांद के शोध के लिए चंद्रयान-2 का प्रक्षेपण किया है। चंद्रयान-2 अंतरिक्ष यान को 'बाहुबली रॉकेट' कहे जाने वाले जीएसएलवी मार्क 3/एम1 रॉकेट से लॉन्‍च किया गया है।


T20 सीरीज के लिए इंडिया की घोषणा

मुम्बई। दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ 15 सितंबर से शुरु हो रही तीन मैचों की टी20 सीरीज के लिए टीम इंडिया की घोषणा हो गयी है। पूर्व कप्तान महेन्द्र सिंह धोनी और तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह दोनो को इस सीरीज में शामिल नहीं किया गया है।  धोनी ने विश्व कप के बाद से ही दो माह को ब्रेक लिया है वहीं बुमराह को फिट रखने के लिए आराम दिया गया है। 
टीम इंडिया और दक्षिण अफ्रीका के बीच तीन टी20 मैचों की सीरीज की शुरुआत 15 सितम्‍बर को होगी और आखिरी मुकाबला 22 सितम्‍बर को खेला जाएगा। 
वहीं विश्व कप के बाद से ही फिटनेस के कारण बाहर रहे ऑलराउंडर हार्दिक पंड्या की टीम में वापसी हुई है। इसके अलावा टीम में कोई बदलाव नहीं किया गया है। 
दोनो टीमों के बीच पहला मुकाबला  15 सितम्‍बर को धर्मशाला में खेला जाएगा। दूसरा मैच मोहाली में 18 सितम्‍बर और बेंगलुरु में 22 सितम्‍बर को तीसरा टी20 मैच होगा। इसके बाद दोनों टीमों के बीच तीन टेस्‍ट मैचों की सीरीज होगी। यह सीरीज अक्‍टूबर तक चलेगी।
पंड्या की लगभग दो माह के बाद टीम में वापसी हो रही है। उन्‍हें वेस्‍टइंडीज के खिलाफ सीरीज से आराम दिया गया था। पंड्या को भुवनेश्‍वर कुमार की जगह टीम में शामिल किया गया है। स्पिनर कुलदीप यादव और युजवेंद्र चहल को भी टीम में जगह नहीं मिली है। चाहर बंधु राहुल और दीपक दोनों टीम में बरकरार हैं। इसके अलावा तेज गेंदबाज नवदीप सैनी को भी टीम में बनाये रखा गया है। 
टीम इस प्रकार है : विराट कोहली (कप्‍तान), केएल राहुल, रोहित शर्मा, शिखर धवन, श्रेयस अय्यर, मनीष पांडे, हार्दिक पंड्या, ऋषभ पंत (‍विकेटकीपर), रवींद्र जडेजा, क्रुणाल पंड्या, वाशिंगटन सुंदर, राहुल चाहर, खलील अहमद, दीपक चाहर और नवदीप सैनी।


चोरों का सरदार कहने पर राहुल को सम्‍मन

विद्याभूषण


 मुंबई। राफेल सौदे को लेकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की आलोचना करने के दौरान उन्हें ''चोरों का सरदार'' कहने पर दायर की गयी एक मानहानि शिकायत पर मुंबई की एक अदालत ने कांग्रेस नेता राहुल गांधी को समन जारी किया है। गिरगाम मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट ने 28 अगस्त को समन जारी करते हुए वायनाड के कांग्रेस सांसद को तीन अक्टूबर को अदालत में पेश होने का निर्देश दिया।
यह समन महेश श्रीश्रीमाल नामक एक व्यक्ति की शिकायत पर जारी किया गया है। श्रीश्रीमाल ने प्रधानमंत्री को 'चोरों का सरदार' कहने पर गांधी के खिलाफ मानहानि की शिकायत दर्ज करायी थी। गांधी ने मोदी पर पिछले साल तीखा हमला करते हुए उन्हें ''चोरों का सरदार'' कहा था।
समन में कहा गया है, ''राहुल राजीव गांधी आईपीसी की धारा 500 के तहत एक आरोप में आपकी उपस्थिति अनिवार्य है। आपको तीन अक्टूबर 2019 को अदालत के समक्ष व्यक्तिगत रूप से पेश होने का निर्देश दिया जाता है।' श्रीश्रीमाल ने अपनी याचिका में दावा किया था कि गांधी के बयानों ने प्रधानमंत्री के समर्थकों की भावनाओं को आहत किया था। कांग्रेस नेता आरएसएस कार्यकर्ताओं द्वारा दायर मानहानि की दो शिकायतों में महाराष्ट्र में पहले ही मुकदमों का सामना कर रहे हैं।


चुन-चुन कर बांटे फर्जी असलहा लाइसेंस

कानपुर। जिलाधिकारी ने चुन चुन के बाटे बीजेपी नेताओं को असलहा लाइसेंस। लोकसभा चुनाव की आचार संहिता लगने के बाद बैक डेट में देर रात तक बंगले में एडीएम से फ़ाइल मंगा कर आनन फानन में किये सैकड़ो लाइसेंस। फ़र्ज़ी असलहा लाइसेंस  की लिस्ट में शामिल है कई बड़े लोगो और उद्योपतियों के नाम। 77 फ़र्ज़ी असलहा लाइसेंस अधिकारी छुपाने में जुटे। फर्जीवाड़ा पकड़े जाने पर लाइसेंस पाए लोग नाम कटवाने की पैरवी में लगे। मीडिया के दवाब में करोड़ो रूपये वसूल कर  जारी किए गए फ़र्ज़ी लाइसेंस की लिस्ट की गई जारी। लिस्ट में सबसे ज्यादा लाइसेंस बीजेपी नेताओं के। पहले डीएम ने 73 फ़र्ज़ी लाइसेंस जारी होने की जानकारी दी। बाद में 7 और नाम बढे।लेकिन पहले 2 फिर 3 लोगो के नाम डीएम ने किसके दवाब में काटे। आजतक किसी को भी जारी नही किया गया नोटिस। सिर्फ असलहा बाबू विनीत और कारीगर जितेंद्र के खिलाफ ही दर्ज हुई है एफआईआर। फ़र्ज़ी लाइसेंस लेने वालों के खिलाफ नोटिस जारी करने से भी बच रहे है अधिकारी। पूरे फर्जीवाड़े पर आला अधिकारियों  कमिश्नर डीएम एडीएम  और सिटी मजिस्ट्रेट ने साध रखी है चुप्पी।


डीसीपी कार्यालय परिसर का उद्घाटन:दिल्ली

नरेंद्र कुमार


नई दिल्ली। दिल्ली पुलिस आयुक्त अमूल्य पटनायक,के द्वारा 30 अगस्त को बाहरी-उत्तर जिले में पुलिस स्टेशन समयपुर बादली में डीसीपी कार्यालय परिसर,का उद्घाटन किया गया।


परिसर में अंग्रेजी कार्यालय, विज़िटर्स, लाउन्ज और सभी आधुनिक सुविधाओं जैसे पीए सिस्टम, प्रोजेक्टर आदि के साथ एक कॉन्फ्रेंस हॉल है। स्टाफ कर्मियों के लिए एक कैंटीन की सुविधा भी है। इस कार्यक्रम के अवसर पर बोलते हुए। दिल्ली पुलिस आयुक्त अमूल्य पटनायक, ने कहा कि बाहरी उत्तर जिले की स्थापना का उद्देश्य रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण इस क्षेत्र में पुलिस की ताकत और दृश्यता को बढ़ाना था। दिल्ली पुलिस आयुक्त ने बताया प्रहरी, पुलिस मित्र और अन्य सामुदायिक पुलिसिंग पहलों के माध्यम से सार्वजनिक सहयोग की सराहना की गई। जोकी बल के रूप में काम करते हैं। उन्होंने उम्मीद जताई कि बेहतर पुलिसिंग के लिए इस तरह की सार्वजनिक भागीदारी जारी रहेगी। उन्होंने आगे रेखांकित किया कि जिले में बढ़ते औद्योगिक क्षेत्रों और उभरते शैक्षिक संस्थानों के साथ महत्व है। डीसीपी आउटर-नॉर्थ ने जिले में पुलिसिंग के कामकाज और पहलुओं पर एक प्रस्तुति दी।


इस मौके पर मोबाइल पिकेटिंग वैन भी लॉन्च की गई। यह वाहन बैरिकेड्स, आतंकवाद विरोधी और दंगा विरोधी गियर और स्वचालित उपकरणों से सुसज्जित है। और आपराधिक गतिविधियों की जाँच करना उपयोगी होगा।उद्घाटन के अवसर पर वरिष्ट पुलिस अधिकारी भी मौजूद थे। ताज हसन,आयुक्त, ट्रैफिक, मुक्तेश चंदर,आयुक्त,आरएस कृष्णिया, आयुक्त, (साउथ), संजय सिंह, आयुक्त, (उत्तर), एसके गौतम, आयुक्त,सुश्री सुंदरी नंदा, आयुक्त, विजिलेंस, मनीष अग्रवाल, जॉइंट.आयुक्त, एनआर,  राजेश खुराना, जॉइंट आयुक्त,सीआर और इस कार्यक्रम के अवसर पर पुलिस मित्र और स्थानीय आरडब्‍ल्‍यू के प्रतिनिधियों के अलावा आलोक कुमार, जेसीपी/ईआर भी उपस्थित थे।


फ्लाईओवर से गिरे तीन बाइक सवार,गंभीर

लखनऊ। यूपी की राजधानी में विभूतिखंड थाना क्षेत्र में फ्लाईओवर से तीन बाइक सवार लोग गिर गए। जिससे तीनों को गंभीर चोटें आई हैं। सभी को लोहिया अस्‍पताल में भर्ती कराया गया है।लखनऊ के विभूति खंड क्षेत्र में तेज रफ्तार बाइक सवार तीन लोग सुधीर, नीरज और अंकित फ्लाईओवर से नीचे गिर गए। जिससे तीनों गंभीर रूप से घायल हो गए।प्रत्‍यक्षदर्शियों के अनुसार बाइक पुल के डिवाइडर से टकरा गई जिसके कारण भयानक हादसा हुआ। गंभीर रूप से तीनों घायलों को लोहिया अस्‍पताल में भर्ती कराया गया। वहीं गंभीर हालत होने पर सुधीर को लोहिया ट्रामा सेंटर रेफर किया गया है।


अपराधियों का हमसफर बना किसान यूनियन

अपराधियों का हमसफर बन रहा किसान यूनियन किसानों की मदद के लिए बना यूनियन अपराधियों को दे रहा संरक्षण
मूसा हसन की रिपोर्ट
लखनऊ। काफी समय से किसान यूनियन अध्यक्ष व उनकी फौज बदौसा एसओ के खिलाफ आंदोलन छेड़ें हैं और उसकी वजह है कि दरोगा ने अपराधी जिसके ऊपर 30 से भी ज्यादा मुकदमे कायम हैं। उसको गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। फिर क्या नेताजी का पारा सातवें आसमान को छूने लगा। पहले नॉर्मल विरोध रहा और जब जिले में ईमानदार एसपी के रहते दाल नहीं गली तो गरीब किसानों को उनके कामधाम बन्द करा अनशन पर बिठा दिया। लगातार दरोगा को भ्रष्ट बताते जा रहे हैं बल्कि गांव के लोगों का कुछ और ही कहना है कि उक्त अपराधी व्यक्ति कुछ ही दिन पहले संगठन में शामिल हुआ है। कुछ लालच बस किसान यूनियन उसका सपोर्ट कर रहा हैं । बल्कि वह व्यक्ति अपराधी किस्म का है और गांव के लोग उससे पीड़ित हैं।कबतक ऐसे स्वार्थी नेताओं पर अधिकारी नकेल कस पाएंगे?कबतक अपराधियों को भी जेल भेजने में पुलिस को ऐसे रोड़ों का सामना करना पड़ेगा?
शायद इन्ही सब दबाओं के चलते दबावबश निर्दोष भी जेल चला जाता है? क्योकी अपराधियो के पास हराम की दौलत होती लुटाने के लिए। 
वास्तविक निर्दोष को बचाने के लिए कोई यूनियन और कोई संगठन आगे नहीं आता क्योकी वह एक गरीब मजबूर अर्थ हीन किसी के स्वार्थ की पूर्ति न करने वाला बेकसूर होता है कैसी बिडम्बना है कि हंस चुनेगा दाना चुनगां कौवा मोती खाएगा।


गैंगरेप पीड़ित की इलाज के दौरान मौत

मुंबई। महाराष्ट्र के औरंगाबाद निवासी गैंगरेप पीडि़त लड़की की इलाज के दौरान मौत हो गई है। जुलाई में लड़की के साथ उसके ही चार दोस्तों ने मुंबई में रेप किया था। इस घटना में पीडि़ता बुरी तरह जख्मी हो गई थी। उसका अस्पताल में इलाज चल रहा था। पुलिस ने बताया कि लड़की के साथ बर्थडे सेलिब्रेट करने के बहाने उसके चार दोस्तों ने उससे गैंगरेप किया था। इस घटना के बाद पीडि़ता अपने घर औरंगाबाद लौट आई थी। पीडि़ता ने डर के चलते किसी को इसकी जानकारी नहीं दी, लेकिन तबीयत बिगडऩे पर उसे 25 जुलाई को अस्पताल में भर्ती कराया गया था। अस्पताल में जांच के दौरान डॉक्टरों को उसके साथ गैंगरेप होने की बात का पता चला।


बच्चों पर जानलेवा हमला,खुद लगाई आग

रायपुर। राजधानी के धरसीवां थाना इलाके में एक पिता ने अपने दो बच्चों पर चाकू से जानलेवा हमला कर दिया। इसके बाद आरोपी ने खुद को आग लगाकर जलाने का प्रयास किया। बताया जा रहा है कि पत्नी के मायके जाने से नाराज आरोपी ने देर रात इस घटना को अंजाम दिया। आरोपी लगभग 70 प्रतिशत जल चुका है। उसे इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है। धरसीवां थाना प्रभारी नरेन्द्र बंछोर ने बताया कि घटना सड्डू इलाके की है। आरोपी शंकर निषाद की पत्नी तीजा मनाने मायके चली गई थी। शुक्रवार-शनिवार की दरम्यानी रात आरोपी घर पहुंचा। बच्चे खाना खाने के बाद सोने की तैयारी कर रहे थे कि आरोपी ने बच्चों पर जान से मारने की नीयत से चाकू से हमला कर दिया। छोटे बच्चे के गले में काफी ज्यादा चोटें आई हैं। वहीं दूसरा बच्चा भी घायल है। जान बचाकर बड़ा बेटा मदद के लिए पड़ोसियों को गुहार लगाई। पड़ोसी जब मदद के लिए घर के अंदर दाखिल हुए तब तक आरोपी खुद पर मिट्टीतेल डालकर आग लगा चुका था। थाना प्रभारी ने बताया कि आरोपी शंकर निषाद का शरीर लगभग 70 प्रतिशत जल चुका था, जिसे इलाज के लिए डीकेएस अस्पताल में भर्ती कराया गया है। बच्चों का भी इलाज जारी है। बड़े बेटे की शिकायत पर पुलिस ने मामले में धारा 307, 309 के तहत अपराध कायम किया है।


आईफा अवॉर्डस का 20 वां संस्करण

मुम्बई। यह आईफा अवार्ड्स का 20 वां संस्करण हैं जो आइफा के रिकॉर्ड में पहली बार भारत की मायानगरी बालीवुड मुंबई में होस्ट किया जाएगा। इस धमाकेदार इवेंट का आयोजन इस साल सितम्बर में महाराष्ट्र मुंबई में होगा। यहाँ पर बॉलीवुड का टेलेंट, ग्लैमर, डांस, नए कलाकारों की प्रतिभा, दुनिया भर की मीडिया, फेन्स के सामने बॉलीवुड के सितारों को सम्मानित किया जाएगा। आइफा मुंबई से इस बार दुनिया को हिलाने के लिए तैयार हैं। तारों-सितारों से सजा यह वार्षिक उत्सव एक बहुत बड़े सेलिब्रेशन का गवाह बनने को तैयार हैं।


पिछले 5 सालों की ही तरह इस बार भी NEXA अपनी कंसिस्टेंसी दिखाते हुए आइफा अवार्ड्स का टाइटल प्रायोजक बना हुआ हैं। वहीं Woosh डिटर्जेंट लगातार तीसरे वर्ष भी कॉज पार्टनर के रूप में लैंगिक समानता के एजेंडे को लिए हुए आइफा के साथ बना हुआ हैं। साथ ही टाटा टी गोल्ड इस इवेंट में ब्रांड पार्टनर हैं।


आइफा द्वारा दिए जाने वाले स्पेशल अवार्ड्स
• IIFA अवार्ड्स 2019 में कुछ नए 5 विशेष पुरस्कारों के साथ और भी बड़ा और बेहतर बनकर आने वाला हैं।
आइफा ने इस अवार्ड को और भी शानदार बनाने के लिए कुछ नए अवार्ड्स की घोषणा की हैं भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म अकादमी ने अपने पिछले 19 वर्षों के विजेताओं के बीच आइफा बिग 20 सम्मान की घोषणा की हैं इसमें वह इन विजेताओं में से किन्ही चुनिंदा विजेताओं को स्पेशल तरीके से सम्मानित करेगा। यह सब आपको देखने को मिलेगा 2019 सितम्बर मायानगरी मुंबई में।


आइफा बिग 20 में विनर्स इस आधार पर चुने जाएंगे।
• बेस्ट परफॉरमेंस फीमेल इन लीडिंग रोल
• बेस्ट परफॉरमेंस मेल इन लीडिंग रोल
• बेस्ट डायरेक्टर
• बेस्ट म्यूजिक डायरेक्टर
• बेस्ट पिक्चर


वहीं आइफा के 11 लोकप्रिय नॉमिनेशन इस प्रकार हैं.
इंटरनेशनल इंडियन फिल्म अकादमी (IIFA) ने 20 वें संस्करण के लिए अपनी पॉपुलर 11 कैटेगरी का एलान कर दिया हैं। बेस्ट पिक्चर से लेकर डायरेक्शन और स्टोरी तक, 11 पॉपुलर कैटेगरी के लिए आपके सुपरस्टार नॉमिनेट हुए हैं. जो कि इस प्रकार हैं।
• सर्वश्रेष्ठ फ़िल्म
• सर्वश्रेष्ठ निर्देशक
• सर्वश्रेष्ठ अभिनेता
• सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री
• सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेता
• सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेत्री
• सर्वश्रेष्ठ कहानी 
• सर्वश्रेष्ठ गीतकार
• सर्वश्रेष्ठ संगीतकार
• सर्वश्रेष्ठ पार्श्व गायक
• सर्वश्रेष्ठ पार्श्व गायिका


युवा दिलों पर राज करने का हुनर

मुंबई।  जाने ये कौन मेरी रूह को छूकर ग़ुज़रा, एक क़यामत हुई बेदार…ख़ुदा ख़ैर करे! आई ज़ंजीर की झनकार ख़ुदा ख़ैर करे.!! फिल्म रजिया सुल्तान में कब्बन मिर्ज़ा की बेमिसाल आवाज में इस गाने के हर एक बोल, दिल में किसी तीर की तरह आर पार हो जाते हैं। खूबसूरती और उस पर चढ़ता जवानी का नशा, किस कदर किसी को अपना दिवाना बनाता है, इस गाने के के जरिए मिर्जा साहब ने इसे बड़ी ही मासूमियत से फरमाने की कोशिश की है। हालांकि उस दौर में खुदा खैर करे तो को अपनी तरह की एकलौती अभिनेत्री हेमा मालिनी पर फिल्माया गया था। लेकिन आज के दौर में इस तरह के जहन की गहराई में उतर जाने वाले गाने को, फिल्माए जाने के लिए किसी ऐसे चेहरे की जरुरत महसूस होती है। जो मासूमियत की ऊंचाईयां को पार करता हुआ हॉटनेस की नयी परिभाषा को जन्म देने की काबिलियत रखता हो।


“मिलावट है तेरे हुस्न में “इत्र” और “शराब” की, तभी मैं थोड़ा महका हूं, थोड़ा सा बहका हूं…” यूँ तो भारतीय फिल्म और टीवी इंडस्ट्री में ऐसे कई चेहरे हैं जो एक नजर में दिल को भा जाते हैं लेकिन कुछ ही चेहरे ऐसे है जिनकी तस्वीर आँखों में समा जाती है और लाख मुद्दतों बाद में उसकी रौनक धूमिल नहीं पड़ती। कौशिकी राठौर एक ऐसा ही चमकता दमकता सितारा है। जिसने अपनी अदायिकी से तो सबको दिवाना बनाया ही है साथ ही ट्रेडिशनल और मॉडर्न युग की सुंदरता का बेमिसाल उदाहरण पेश किया है।कौशिकी मुंबई की बारिश में आग लगाने से लेकर स्टार प्लस के मशहूर शो, कृष्ण चली लन्दन, तक का एक बेहतरीन सफर पूरा करने के साथ अपनी अदायिकी और हॉटनेस से तमाम युवा दिलों पर राज करने का का हुनर कमाया है। कहते हैं तस्वीरें बोलती हैं, और इसमें कोई आश्चर्य नहीं हैं कि कौशिकी की हर अदा किसी जंजीर की झंकार से कम नहीं है और यही वजह है कि लेख की पहली लाइन में कब्बन मिर्ज़ा के गीत को लिखना एक मजबूरी महसूस होने लगती है।


प्रोफेशनल फ्रंट पर बात करें तो स्टार प्लस के मशहूर शो कृष्णा चली लन्दन में गुड्डन का किरदार निभाने वाली कौशिकी को जल्द ही एक वेब सीरीज में देखा जायेगा। एक्टिंग के साथ-साथ मॉडलिंग और फोटोग्राफी का शौक रखने वाली कौशिकी, हाल में हुए एक फोटोशूट में अपने तड़कते भटकते बोल्ड अंदाज में भी दिखी थी। गुस्से से दूर खुशमिजाजी को अपने पास रखने में यकीन करने वाली कौशिकी शो कृष्णा चली लन्दन में गुड्डन के किरदार में देखा गया था, जहां उन्हें उनकी एक्टिंग के लिए दर्शकों की काफी सराहना मिली थी। गुड्डन ने भाभी के किरदार में थोड़ी पागल और चुलबुल भाभी की भूमिका निभाते हुए सबका दिलजीत लिया था।


कौशिकी असल में भी काफी चुलबुली स्वभाव की है। दूरदर्शन के लिए काम कर चुकी कौशिकी जल्द ही एक वेब सीरीज में भी दिखने वाली है। हाल ही में दिए अपने एक इंटरव्यू में उन्होंने बताया कि उन्हें गुस्सा बहुत कम आता है और बचपन से ही सिगिंग और डांसिंग का शौक रखती है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक कौशिकी ने मेरा इंतकाम गाने से पहले एक बोल्ड फोटो शूट भी कराया था जिसकी सोशल मीडिया पर लम्बे समय तक चर्चा रही थी।


6 सालों में सबसे बुरे दौर मे जीडीपी

नई दिल्ली। देश की अर्थव्यवस्था बुरे दौर में है, इसके संकेत मिलने लगे हैं। सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) के आंकड़े जिस तरह से गोता लगा रहे है, वह अर्थव्यवस्था की सुस्ती की ओर साफ इशारा कर रहे हैं। विनिर्माण और कृषि क्षेत्र में आई सुस्ती से चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में जीडीपी वृद्धि दर 5.8 से घट कर 5 प्रतिशत रह गई। यह पिछले छह साल से अधिक समय में सबसे कम वृद्धि रही है।


शुक्रवार को जारी आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक पहली तिमाही में विनिर्माण क्षेत्र में सकल मूल्यवर्धन (जीवीए) वृद्धि 0.6 प्रतिशत रही जो एक साल पहले की इसी अवधि में 12.1 प्रतिशत थी। इसी तरह कृषि क्षेत्र में जीवीए वृद्धि कमजोर पडक़र दो प्रतिशत रही जो 2018-19 की अप्रैल-जून अवधि में 5.1 प्रतिशत पर थी। निर्माण क्षेत्र की वृद्धि दर भी घटकर 5.7  प्रतिशत पर आ गयी है जो एक साल पहले की पहली तिमाही में 9.6 प्रतिशत थी। हालांकि, खनन क्षेत्र की वृद्धि में इजाफा हुआ है। आलोच्य अवधि में यह 2.7 प्रतिशत रही है जो इससे पिछले वित्त वर्ष की इसी अवधि में 0.4 प्रतिशत थी।


इससे पहले वित्त वर्ष 2012-13 की चौथी तिमाही (जनवरी- मार्च में) देश की आॢथक वृद्धि दर 4.3 प्रतिशत के निचले स्तर पर रही थी जबकि एक साल पहले 2018-19 की पहली तिमाही में आॢथक वृद्धि दर 8 प्रतिशत के उच्च स्तर पर रही थी। पिछली तिमाही यानी जनवरी से मार्च 2019 में आर्थिक वृद्धि दर 5.8 प्रतिशत और वित्त वर्ष 2018- 19 की वृद्धि दर 6.8 प्रतिशत रही।


राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय ने एक बयान में कहा कि वित्त वर्ष 2011-12 के स्थिर मूल्यों के आधार पर वित्त वर्ष 2019-20 की पहली तिमाही में सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) का आकार 35.85 लाख करोड़ रुपये रहने का अनुमान है जबकि वित्त वर्ष 2018-19 की अप्रैल-जून तिमाही में यह  34.14 लाख करोड़ रुपये रहा था। इस प्रकार यह जीडीपी में पांच प्रतिशत वृद्धि दर को दर्शाता है। वहीं 2011-12 के स्थिर मूल्य के आधार पर समीक्षावधि में सकल स्थायी पूंजी निर्माण (जीएफसीएफ) इस अवधि में 11.66 लाख करोड़ रुपये रहने का अनुमान है।


वर्ष 2018-19 की पहली तिमाही में यह 11.21 लाख करोड़ रुपये था। जीएफसीएफ को निवेश का मानक माना जाता है। समीक्षाधीन अवधि में वर्तमान और स्थिर कीमतों पर जीडीपी के समक्ष जीएफसीएफ क्रमश:  29.7  प्रतिशत और 32.5  प्रतिशत रहने का अनुमान है। पिछले वित्त वर्ष की इसी अवधि में यह क्रमश: 30  और 32.8 प्रतिशत रहा था। भारतीय रिजर्व बैंक ने जून की मौद्रिक समीक्षा में चालू वित्त वर्ष की आॢथक वृद्धि दर का अनुमान सात प्रतिशत से घटाकर 6.9  प्रतिशत कर दिया था। वर्ष 2019 की अप्रैल-जून अवधि में चीन की आर्थिक वृद्धि दर 6.2 प्रतिशत रही है जो उसके पिछले 27 साल में सबसे कम रही।


सीएम पोर्टल से उठ रहा लोगों का विश्वास

लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लोगों की समस्याओं के समाधान के लिए सीएम पोर्टल की शुरुआत की थी। इससे त्वरित न्याय के साथ सरकार की छवि बेहतर होने की उम्मीद थी, लेकिन जनपद में अधिकांश अधिकारियों की लापरवाही सीएम के इस सपने पर पानी फेर रही है। इसका खुलासा कई मामलो में निस्तारण बिना छानबीन के ही झूठी रिपोर्ट लगाने का सामने आया हे । मामला ये है की गांव सुहावली अकराबाद निवासी गजराज सिंह ने बताया कि उन्होंने अपने सहयोगी रवेंद्र पुत्र नेत्रपाल निवासी गांव सुहावली के माध्यम से जन सुनवाई पोर्टल पर शिकायत दर्ज कराई थी कि एनआरएलएम के तहत गांव में स्वयं सहायता समूहों का गठन नहीं हुआ है।इनका गठन कराया जाए।


जवाब में खंड विकास अधिकारी अकराबाद एवं ग्राम पंचायत अधिकारी सुहावली तथा सहायक विकास अधिकारी पंचायत अकराबाद ने गांव सुहावली में अंबेडकर स्वयं सहायता समूह नाम से समूह बनाने और खाता खोले जाने की प्रक्रिया पूर्ण होने की जानकारी दी।रिपोर्ट पर ग्राम प्रधान सोनू कुमारी व उनके जेठ प्रेम कुमार पुत्र तोताराम तथा राशन डीलर विनोद पुत्र जानकी प्रसाद निवासी गांव सुहावली को गवाह बनाया जाना दर्शाया।सूचना के हश्र को देख कर तो ऐसा ही लगता है।अफसरों ने यहां स्वयं सहायता समूह का गठन दिखा दिया।इसके बाद उन्होंने आरटीआई से जानकारी मांगी तो कार्यालय खंड विकास अधिकारी अकराबाद से जानकारी मिली कि उक्त योजना में आज तक कोई समूह गठित नहीं हुआ है।उन्होंने डीएम से मामले की जांच कराने एवं पोर्टल पर गलत निस्तारण दर्ज कराने वाले अफसरों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है।


इसी तरह तमाम लोगों ने सैकड़ों जन शिकायतें सीएम हेल्प लाइन और संबंधित अधिकारियों से कीं, लेकिन जिले के संबंधित अधिकारियों ने मुख्यमंत्री के आदेश को ठेंगा दिखाकर उनको ठंडे बस्ते में डाल दिया। आइजीआरएस पोर्टल पर बहुत से मामलों में केवल औपचारिकता स्वरूप शिकायत को केवल विभाग में ट्रांसफर कर निस्तारित बता दिया गया।


एनआरसी की लिस्ट में 1906657 लोग बाहर

नई दिल्ली। असम एनआरसी की फाइनल लिस्ट जारी कर दी गई है। गृह मंत्रालय ने फाइनल लिस्ट की सूची जारी की है। सुरक्षा-व्यवस्था के लिए 51 कंपनियां तैनात की गई हैं, एनआरसी के स्टेट कॉर्डिनेटर प्रतीक हजेला ने बताया कि 3 करोड़ 11 लाख 21 हजार लोगों को एनआरसी की फाइनल लिस्ट में जगह मिली और 19,06,657 लोगों को बाहर कर दिया गया, जो लोग इससे संतुष्ट नहीं है, वे फॉरनर्स ट्रिब्यूनल के आगे अपील दाखिल कर सकते हैं।


एनआरसी की फाइनल लिस्ट जारी हो जाने के बाद व्यक्ति की नागरिकता रहेगी या नहीं इसका निर्णय फ़ॉरेन ट्रायब्यूनल ही करेगी।


असम के वित्त मंत्री हिमंता बिस्वा शर्मा ने कहा है कि वह राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर (एनआरसी) को लेकर सारी उम्मीदें छोड़ चुके हैं, क्योंकि केंद्र और राज्य सरकार विदेशियों को राज्य से बाहर करने के नए तरीकों पर चर्चा कर रही हैं। अंतिम एनआरसी सूची जारी होने से पहले शर्मा ने कहा, ” मैंने एनआरसी को लेकर सभी उम्मीदें खो दी हैं। मैं बस चाहता हूं कि दिन बिना किसी बुरी घटना के शांति से गुजर जाए.” हिमंता बिस्वा ने आगे कहा, “दिल्ली और असम सरकार विदेशियों को राज्य से बाहर निकालने के लिए नए तरीकों पर चर्चा कर रही हैं। मुझे नहीं लगता कि यह अंतिम सूची है, अभी और भी बहुत कुछ सामने आना बाकी है।”


केंद्र ने कहा कि जिन लोगों के नाम फाइनल एनआरसी में नहीं हैं, उनको तब तक विदेशी घोषित नहीं किया जा सकता जब तक सभी कानूनी विकल्प खत्म नहीं हो जाते। एनआरसी से बाहर हुए सभी लोग फॉरनर्स ट्रिब्यूनल में अपील कर सकते हैं और अपील फाइल करने के लिए समय सीमा को 60 दिनों से 120 दिन बढ़ा दिया गया है। बाहर किए गए और शामिल किए गए लोगों की सूची को एनआरसी की वेबसाइट पर देखा जा सकता है। एनआरसी की वेबसाइट  www.nrcassam.nic.in. है। एनआरसी लिस्ट जारी होने के कुछ ही समय बाद इसकी वेबसाइट क्रैश हो गई।


कई बीजेपी नेताओं ने बंगाली हिंदुओं के लिस्ट से बाहर होने पर चिंता जताई। सीएम सर्बानंद सोनोवाल ने बीते हफ्ते गृह मंत्री अमित शाह से मीटिंग के बाद कहा था, 'केंद्र एक कानून पर विचार कर सकता है। जिससे लिस्ट में शामिल विदेशियों को बाहर किया जा सके और उन लोगों को लिस्ट में शामिल किया जा सके जो सच में भारतीय हैं।असम में 60 हजार पुलिस के जवानों को पोस्ट किया गया है और केंद्र ने 20 हजार की अतिरिक्त पैरामिलिट्री फोर्स को असम भेजा है। किसी भी जगह 4 से ज्यादा लोगों के एक साथ खड़े होने पर प्रतिबंध है। खास तौर पर उन जगहों का ध्यान रखा जा रहा है जो संवेदनशील हैं और जहां पहले भी हिंसा हो चुकी है।


फैक्ट्री में विस्फोट, 20 मौत ,22 घायल

मुंबई। महाराष्ट्र के धुले से एक बड़ी खबर सामने आई है, शिरपुर की एक कैमिकल फैक्‍ट्री में एकाएक बड़ा विस्‍फोट हुआ है। बताया जा रहा है कि इस हादसे में अब तक 20 लोगों की मौत हो गई है, जबकि 22 से अधिक लोग घायल हुए हैं। बताया जा रहा है कि धमाके के बाद फैक्‍ट्री में लगी आग में अभी 70 लोग और फंसे हुए हैं। घटना की जानकारी मिलने के बाद फायर ब्रिगेड की कई गाडि़यां और राहत बचाव कार्य के लिए प्रशासन की ओर से टीमें भेजी गई हैं। फायर ब्रिगेड की गाडि़यां आग बुझाने में लगी हुई हैं। पुलिस ने बताया कि विस्‍फोट के समय फैक्‍ट्री में 100 लोग काम कर रहे थे। यह फैक्‍ट्री शिरपुर तालुका के वघाडी गांव में स्थित है। बताया जा रहा है कि घटना सुबह 9:45 बजे हुई। एक वरिष्‍ठ पुलिस अधिकारी ने बताया, 'प्रथमदृष्‍टया ऐसा लग रहा है कि कई सिलिंडरों में विस्‍फोट हुआ है। अब तक 8 लोगों के शव निकाले गए हैं। राहत और बचाव कार्य जारी है। जानकारी के अनुसार, कैमिकल फैक्‍ट्री में हुआ यह धमाका इतना जोरदार था कि कई किलोमीटर तक इसकी आवाज सुनी गई।


'अच्छे दिन' का भोंपू बजा किया,पंचर

नई दिल्ली। केंद्र की मोदी सरकार अर्थव्यवस्था के मोर्चे पर चारों तरफ से घिरती जा रही है। एक तरफ जहां उसे अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए जूझना पड़ रहा है। वहीं सहयोगी और विपक्षी दलों के नेता भी मोदी सरकार की आर्थिक नीतियों पर सवाल खड़े कर रहे हैं। कांग्रेस के साथ ही बीजेपी नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने भी सरकार की नीतियों को कटघरे में खड़ा कर दिया है। कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी ने अर्थव्यवस्था को मुद्दा बनाते हुए मोदी सरकार पर बड़ा हमला किया है। प्रियंका गांधी ने कहा कि GDP विकास दर से साफ है कि अच्छे दिन का भोंपू बजाने वाली बीजेपी सरकार ने अर्थव्यवस्था की हालत पंचर कर दी है। न GDP ग्रोथ है न रुपये की मजबूती, रोजगार गायब हैं। अब तो साफ करो कि अर्थव्यवस्था को नष्ट कर देने की ये किसकी करतूत है? बता दें कि आर्थिक मोर्चे पर मोदी सरकार को जबरदस्त झटका लगा है। विकास दर सात साल के न्यूनतम स्तर पर पहुंच चुकी है। मौजूदा वित्तीय वर्ष की पहली तिमाही में जीडीपी 5 फीसदी पर पहुंच चुकी है जबकि पिछले वित्तीय वर्ष में यह 5.8 फीसदी पर थी। गिरते विकास दर को लेकर कांग्रेस ने मोदी सरकार को घेरा है और 5 फीसदी के आंकड़े पर भी सवाल उठाए हैं। असल में देश को आर्थिक मोर्चे पर बड़ा झटका लगा है। आर्थिक वृद्धि दर 2019-20 की पहली तिमाही में घटकर सिर्फ पांच प्रतिशत रह गयी है। मैन्युफैक्चरिंग, कंस्ट्रक्शन और कृषि सेक्टर के आंकड़े काफी परेशान करने वाले हैं। जीडीपी की हालत पिछले सात सालों में सबसे खराब स्थिति में पहुंच गई है।


सड़क हादसे में 15 घायल 2 की मौत

सतीश शर्मा


बलौदाबाजार। जिले से इस वक्त की बड़ी खबर आ रही है जहां रॉयल बस सर्विस और ट्रक के बीच जबरदस्त भिड़ंत हुई है ।मिली जानकारी के अनुसार 15 लोग घायल इस दुर्घटना में बताया जा रहे हैं सभी घायलों को जिला अस्पताल रेफर किया गया है जहां उनका इलाज जारी है ।


आपको बताते चलें कि जिले में लगातार सड़क दुर्घटनाएं बढ़ रही है बावजूद इसके जिला प्रशासन सड़क दुर्घटनाओं को रोकने के लिए कुछ ज्यादा प्रयास नहीं कर रही है। जिससे आने वाले दिनों में लगातार घटनाएं बढ़ रही है अभी कुछ दिन पहले ही जिले के ही ग्राम पंचायत कटगी में दो ट्रकों की जबरदस्त भिड़ंत हुई थी जिसमें दो व्यक्तियों की मौके पर ही मौत हो गई थी।


धार्मिक यात्रा-भ्रमण कर सकते हैं:तुला

राशिफल


मेष: आज बच्चों पर ध्यान दें और उनके साथ समय बितायें। उग्र स्वभाव पर संयम रखने की जरूरत है। दिन मिलाजुला रहेगा। बचे हुए कार्य पूरे करने में सफल रहेंगे। मानसिक तौर पर थकान का अनुभव करेंगे। 
वृषभ: पारिवारिक कार्यों में आज आप व्यस्त होंगे। पिता की ओर से लाभ मिलेगा। कोई आपका करीबी आपको निराश करेगा। इसलिए बहुत ज्यादा किसी पर भरोसा दिखाने से बचें। पढ़ाई में रुचि होगी। आर्थिक सफलता मिलेगी।
मिथुन: आज किसी खास और नये शख्स से आपकी मुलाकात हो सकती है जो भविष्य़ में आपके जीवन में बड़ी भूमिका निभाने वाला है। दिन अच्छा रहेगा और आप खुश महसूस करेंगे। 
 
कर्क: आज आपके लिए दिन बहुत फायदे और लाभ वाला नहीं है। वैसे, बहुत नुकसान भी नहीं होने वाला है। दिन मध्यम रहेगा। अगर आपके बच्चे हैं और दूर रह रहे हैं तो आज उनकी कमी आपको खल सकती है। 
सिंह: आज आप आत्मविश्वास से भरे होंगे। बिजनेस में कोई नया और बड़ा प्रस्ताव आपके हाथ आ सकता है। आप तेजी से और सही फैसले लेंगे और इसका फायदा भी कार्यों में आपको मिलेगा। मान-सम्मान बढ़ेगा। 
कन्या: आज अपने वाणी और क्रोध पर संयम रखें। अपने अहम को दूर रखें। इससे बड़े नुकसान की आशंका है। शारीरिक थकान और सुस्ती का अनुभव करेंगे। आकस्मिक धन का खर्च हो सकता है। संतान पक्ष से विवाद की आशंका है। 
तुला: आज आप परिवारजनों और अपने संतान के साथ अच्छा समय व्यतीत करने वाले हैं। कहीं छुट्टी या पिकनिक आदि मनाने जा सकते हैं। धार्मिक स्थलों का भी भ्रमण कर सकते हैं। नौकरीपेशा वालों के लिए भी दिन अच्छा है। वैवाहिक सुख की प्राप्ति होगी। स्त्री से लाभ होगा। 
वृश्चिक: आज का दिन आपके लिए फलदायी है। गृहस्थजीवन में आनंद और उल्लास का वातावरण बना रहेगा। आपके कार्य आराम से बिना किसी अवरोध के संपन्न होंगे। बड़े-बुजुर्गों की कृपा दृष्टि रहेगी। आरोग्य अच्छा रहेगा।
धनु: कला या मीडिया के क्षेत्र से आप जुड़े हैं तो आज का दिन आपके लिए अच्छा रहने वाला है। संपत्ति आदि खरीदने के बारे में विचार कर रहे हैं तो इसे आज के लिए टालना बेहतर होगा। उमंग- उत्साह का अभाव रहेगा। 
मकर: आज आप क्या करें और क्या न करें जैसी उलझन में फंसा हुआ महसूस करेंगे। कोई निर्णय लेने से कतरायेंगे। वैसे ऑफिस एवं व्यवसाय क्षेत्र में आज परिस्थिति अनुकूल होगी। आकस्मिक खर्च के योग हैं। यात्रा के दौरान वाहन चलाते समय विशेष ध्यान रखें। 
कुंभ: आपकी ऑफिस एवं व्यवसाय क्षेत्र में दिन अच्छा गुजरने वाला है। आपकी इच्छाओं की पूर्ति होगी। प्रणय प्रसंग आपके दिन को और खूबसूरत बनाएंगे। नया वाहन खरीद सकते हैं। विवाह के संबंध में अच्छा समाचार मिल सकता है। 
मीन: आज धार्मिक कार्यों में आपकी रूचि रहेगी। किसी धार्मिक स्थल पर जा सकते हैं। स्वास्थ्य अच्छा रहने वाला है। दैनिक कार्य आराम से पूरे होंगे। धनलाभ का योग है। पुराने मित्रों से मुलाकात हो सकती है।


लिव-इन-रिलेशनशिप व्यवस्था

लिव-इन सम्बन्ध या लिव-इन रिलेशनशिप एक ऐसी व्यवस्था है जिसमें दो लोग जिनका विवाह नहीं हुआ है, साथ रहते हैं और एक पति-पत्नी की तरह आपस में शारिरिक सम्बन्ध बनाते हैं। यह सम्बंध स्नेहात्मक होता है और रिश्ता गहरा होता है। सम्बन्ध कई बार लम्बे समय तक चल सकते हैं या फिर स्थाई भी हो सकते हैं।इस प्रकार के सम्बंध विशेष रूप से पश्चिमी देशों में बहुत आम हो चुके हैं। यह रुझान को पिछले कुछ दशकों में काफ़ी बल मिला है, जिसका कारण बदलते सामाजिक विचार हैं, विशेषकर विवाह, लिंग भागीदारी और धर्म के मामलों में।


भारत के सर्वोच्च न्यायाल ने लिव-इन सम्बंधों के समर्थन में एक ऐतिहासिक निर्णय सुनाते हुए कहा है कि यदि दो लोग लंबे समय से एक दूसरे के साथ रह रहे हैं और उनमें संबंध हैं, तो उन्हें शादीशुदा ही माना जाएगा।


सम्बन्ध के लाभ:-साथी को पूर्ण समय मौजूद होने के कारण जानने में आसानी होती है।
दोनो पक्ष आम तौर से आर्थिक रूप से स्वतंत्र और किसी पर निर्भर नहीं होते।
इस रिश्ते में सामाजिक और पारिवारिक नियम लागू नहीं होते।
वैवाहित जीवन की जवाबदारी इस रिश्ते पर लागू नहीं होती।
हर पक्ष दूसरे का सम्मान करता है।
सम्बन्ध के समाप्त होने पर तलाक जैसे झंजट-भरे मुकदमे कम ही देखे गए हैं।
असुविधाएँ:-समाज की अस्वीकृति और तिरस्कार।
सम्बंध का विवाह की तरह टिकाव न होना।
स्त्रियों की समस्याएँ, विशेष रूप से सम्बंध अचानक टूटने की स्थिति में पुरुषों से अधिक होती हैं।
इस सम्बंध से पैदा होने वाले बच्चे पारम्परिक पारिवारिक मर्यादाओं को समझने और अपनाने में असमर्थ होते हैं।
विवाह जैसे सम्बंध के आदर की कमी साफ़ दिखाई देती है।


यमआचार्य नचिकेता वार्ता

गतांक से...


हे ब्रह्मावाह वॉचन्‍नम है' जिस राजा के राष्ट्र में विचारों में भिन्नता आ जाती है। राष्ट्र और प्रजा दोनों में एक दूसरे का मत भिन्न होता रहता है । राष्ट्र को नारकीय  बनाता है। वह समाज नरक है। इसलिए यमआचार्य ने कहा, नचिकेता, हमारे प्यारे आचार्य से संबंधित रहना चाहिए। दोनों का परस्पर विवाद मे परस्पर समन्वय हो। परस्पर एक विचारों में प्रश्न करता उत्तर देने वाला है और वह दर्शनिक दर्शनों से उठा हुआ हो। ज्ञान और विज्ञान में गुथा हुआ हो। इस प्रकार का जो तुम्हारा विद्यालय है यह स्वर्ग कहलाता है ।प्रथम अग्नि का पूजन ग्रह पथ्‍य नाम की अग्नि कहलाती है। जिस अग्नि का हमें पूजन करना है और द्वितीय अग्नि का नाम हमारे यहां आहावह अन्य नाम की अग्नि कहलाती है। जिस अग्नि में ब्रह्मचारी मानव तपस्या करता है। द्वितीय का नाम। मेरे प्यारे देखो वह ग्रहपथ्‍य नाम की अग्नि ग्रहपथ्‍य नाम की अग्नि क्या है? जहां बैठा देखो माता पिता अग्नि में तपाया रहते हैं उस अग्नि का हमें पूजन करना है। आज कोई भी यह चाहता है कि मेरा गृह स्वर्ग बन जाए। मेरे गृह में स्वर्ग का वायुमंडल बन जाए। तो माता-पिता अंतरस्थली पर विराजमान होकर के लक्षणों का विचार-विनिमय करें और प्रातः कालीन अग्निहोत्र। जिसे ग्रहपथ्‍य नाम की अग्नि कहते हैं, का पूजन करें। अग्नि नाम कई रूपों में रहने वाली है। यह वाणी से उद्गार शब्द गीत होता है। इसका नाम भी अग्नि कहलाता है। जब माता-पिता अपने अपने आचरण से विशुद्ध होते हैं। आचरण के होते हैं उनके गृह स्वर्ग बनते हैं और जिनके आचरण की भिन्नता हो जाती है। वहां ग्रह शांत हो जाती है अपने को स्वर्ग बनाना है। तो हमें चरणों को इतना पवित्र बनाना चाहिए। अंतरात्मा के अनुकूल बनाना चाहिए ।पति-पत्नी माता-पिता बालक बालिका अपने श्रवण करेंगे। अपने में अध्ययन करेंगे उनके आचरण से उनके आचरण बन जाते हैं। उनकी प्रतिक्रिया विचित्र बन जाती है। हे मातेश्वरी, हे मित्रों, आज अपने चरणों को पवित्र बनाओ। तुम्हारे ग्रह में नर्क का वास ने बन जाए। तुम नारकीय बनो। तुम देवपुरी में अपना वास करने वाले। ग्रह को स्वर्ग बनाना है तो स्वर्ग उस काल में बनेगा जब ग्रहपथ्‍य नाम की अग्नि का प्रकाश होगा। प्रकाश कैसे होता है। प्रातः कालीन वेद मंत्रों का अध्ययन ध्वनि होती रहे। गृह प्रातः कालीन ध्वनित होता रहे। मुझे स्मरण आता रहता है नाना ऋषि-मुनियों का जीवन वह माता और पिता अपने शिकानकेतू ऋषि हुए हैं उद्दालक गोत्र में। शिकनकेतु ऋषि महाराज और उनकी पत्नी प्रातः कालीन याग करते तो याग क्रम में मानव दर्शनों का अध्ययन करते। विज्ञान की तरंगों में उड़ान उड़ते रहते। बाल बालिकाएं माता-पिता के आश्रमों का अध्ययन करते जब अध्ययन करते तो स्वर्ग बन गया। ग्रह में जीवन बन गया और मैं आज तुम्हें ग्रहपथ्‍य नाम की अग्नि के पूजन के संबंध में कुछ विवेचना करना चाहता हूं । महाराज दिलीप जब अध्ययन करते थे और उनकी पत्नी जब ग्रहपथ्‍य नाम की अग्नि का पूजन करती तो राष्ट्र पवित्र बंधन बन जाता। प्रातः कालीन अपनी क्रियाओं से निवृत्त होकर के वेदों का अध्ययन करना, ज्ञान की चर्चा करना।  प्रातः कालीन अग्निहोत्र करना प्रकाश और सुगंध में अपने जीवन को ले जाना और दर्शनों का अध्ययन करना हमारा मानवीय कर्तव्य है। जब तप कर देता है तो दूसरा प्राणी भी तपायमान हो जाता है। बालक बालिकाओं में परिणित हो जाते हैं। अथवा निश्चित हो जाते हैं। विचार-विनिमय क्या है। देखो, विशाखा वायुमंडल केवल पानी से प्रारंभ होता है। इसलिए वाणी में नम्रता के उद्गार होने चाहिए जिससे बालक कहे कि मेरे माता-पिता बड़े प्रसन्न है, वह कितने उदार हैं।  कितने गीत गाने वाले हैं। मेरे पुत्रों, मदालसा जब वेदों का गाना गाती थी। उसके बालक बालिका प्रातः कालीन वेद गाती रहती तो ब्रह्मचारी बालक उनके समीप विद्वान है। माता के गानों को सुनकर के ग्रह को पवित्र बना रही है। गृह में वायुमंडल पवित्र बन रहा है जगत और मन दोनों ऊंचे बन रहे हैं। तो स्वर्ग की कल्पना करने वाला आचार्य कहता है वेद मंत्र कहता है कि हमारे यहां स्वर्ग होना चाहिए। मुझे, मनु के यहां महाराज अक्षु का जीवन उनके साहित्य में प्रवेश करते हैं, प्रातः कालीन वेद का अध्ययन करते हैं। समुद्रों के तटों पर विद्यमान हो करके उपासना करते हैं। राष्ट्र में प्रजा उनके अनुकूल बरतने लगे, इस प्रकार राष्ट्र बन गया, मानव का आचरण मानव की प्रतिभा ऊंची नहीं बनेगी। मानव कल्पना करें कि मैं स्वर्ग में चला जाऊं यह असंभव है। बालक वर्ग कहलाता है। परमपिता परमात्मा है,माता की प्रतिभा का निर्माण हो रहा है।


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्रधिकृत प्रकाशन विवरण
september 01, 2019 RNI.No.UPHIN/2014/57254
1.अंक-29 (साल-01)
2. रविवार,01सितबंर 2019
3.शक-1941,भादप्रद शुक्‍लपक्ष दूज ,विक्रमी संवत 2076
4. सूर्योदय प्रातः 5:53,सूर्यास्त 6:54
5.न्‍यूनतम तापमान -27 डी.सै.,अधिकतम-35+ डी.सै., हवा की गति धीमी रहेगी, उमस बनी रहेगी, बरसात की संभावना।
6. समाचार पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है! सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा।
7. स्वामी, प्रकाशक, मुद्रक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित।


8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102


9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.201102
email:universalexpress.editor@gmail.com
cont.935030275


अभियान, सैकड़ों अरब डॉलर की परियोजनाएं: मंजूर

वाशिंगटन डीसी। दुनिया के सबसे संपन्न सात देशों (जी 7) के शिखर सम्मेलन में शनिवार को चीन मुख्य मुद्दा रहा। चीन की विस्तारवादी नीतियों के खिला...