बुधवार, 16 अक्तूबर 2019

बारह वर्षीय मासूम के साथ कुकर्म

लोनी पुलिस ने नहीं की कोई कार्यवाही 12वर्षीय मासूम के साथ कुकर्म कर सलून संचालक फरार
अपराध संवाददाता रवि चौहान
गाजियाबाद,लोनी। पुलिस ने नहीं की कोई कार्यवाही 12वर्षीय मासूम के साथ कुकर्म कर सलून संचालक फरार पीड़ित एसएसपी से लगाएगा गुहार।


लोनी स्थित प्रेम नगर से एक दर्दनाक मामला प्रकाश में  आया। मासूम के साथ दुकान संचालक ने किया कुकर्म। दुकान छोड़कर हुआ फरार। पुलिस प्रशासन मामले को संज्ञान में लेकर कार्यवाही करने का कष्ट करें।




एक तरफ जहां मोदी सरकार अपराध को मिटाने में कोई कसर नहीं छोड़ रही है|वहीं दूसरी ओर रिश्तो को शर्मसार कर देने वाली घटना सामने आई है|जी हां ऐसा ही एक मामला जिला गाजियाबाद के लोनी प्रेम नगर कॉलोनी का सामने आया है| जिसमें चार्ली ब्यूटी पार्लर के नाम से एक नाई की दुकान चलाई जाती हैं|जिसमें एक12वर्षीय मासूम बच्चा भी काम सीखने के लिए जाता था मां-बाप की आर्थिक स्थिति ठीक ना होकर इस मासूम बच्चे ने जिम्मेदारी को जैसे ही समझना शुरू किया|वही चार्ली के नाम से दुकान चलाने वाले संचालक ने कुछ दिन पहले दुकान का शटर बंद करके मासूम12वर्षीय बच्चे को के साथ कुकर्म किया|वही बच्चे ने रो-रो कर गांव गए हुए अपने माता-पिता से आपबीती फोन पर बताएं और दुकान पर ना जाने की बात की बच्चा कहता रहा वही गांव से वापस आए पिता ने दुकान पर जाकर दुकान मालिक से पूछना चाहा,कि बच्चे के साथ तुमने क्या किया|दुकान संचालक ने बच्चे के पिता को धमका कर कहा जो करना है|कर ले इसके बाद पीड़ित पिता ने लोनी तिराहा चौकी पर पहुंचकर लिखित में शिकायत देकर न्याय की गुहार लगाई1सप्ताह बीत जाने के बाद भी कोई कार्यवाही ना देखकर पीड़ित पिता ने लोनी थाना प्रभारी से दोबारा लिखित में शिकायत की तो थाना प्रभारी ने तत्काल पीड़ित पिता के साथ पुलिस भेज कर चार्ली ब्यूटी पार्लर के संचालक के पुत्र को लोनी थाना ले आई|


इसके बाद तो और भी दुख की बातें सामने आई,जिसमें कुछ दलाल दबंग मिलकर पीड़ित पिता पर दबाव बनाकर फैसला कराने की बात करने लगे|और इस मामले को रफा दफा कर मामले को शांत करने की बात की गई|अब देखना होगा|कि क्या उस 12वर्षीय मासूम बच्चे व उसके पीड़ित पिता को न्याय मिल पाएगा|


पुलिस प्रशासन ऐसे व्यक्ति को सख्त से सख्त सजा देकर एक मासूम को न्याय दिलाने का कार्य करें|जिससे पुलिस प्रशासन व शासन पर पीड़ितों का भरोसा बना रहे|


 


चौकीदारों का‌ मुख्यमंत्री को ज्ञापन

हरदोई। डॉ०भार्गव की अध्यछता में सैकड़ो चौकीदारों ने धरना प्रदर्शन कर एक 12 सूत्री ज्ञापन उ०प्र० के मुख्यमंत्री को जिला अधिकारी के माध्यम से दिया।संघटन की मुख्य मुख्य मागे है।
बिहार की तरह उ०प्र०में थाना चौकीदारों को चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी घोषित किया जाए।थाना कर्मचारियों को वर्दी ,जूता, टॉर्च, साफ सहित पूरी किथेर वर्ष दी जाय।थानों मे निजी कार्य न कराकर सरकारी कार्य कराया जाए।थानों में सुरक्षा हेतु बंदूक लाइसेंस सरकारी खर्च पर दिया जाए।चौकीदारों के निधन पर उनके आश्रितों को नौकरी पर दी जाए। डयूटी पर मृत्य होने पर 2500000मुआवजा दिया जाय।थाने में चौकीदारों के लिये अलग कैम्पस बनाया जाय।चौकीदारों दी सुचना चौकीदारो के नाम हो।चौकीदारों से 8 घंटे की ड्यूटी ली जाए अधिक डयूटी लेने पर ओवर टाइम दिया जाए।पिछली सरकार में काम कर रहे चौकीदारों को पुनः डयूटी दे कर बकाया वेतन दिया जाए।थानों में चल रही मेस में चौकीदारों को खाना दिया जाए।ग्राम सभाओं मे भी नियुक्ति की जाए।धरने पर बैठे चौकीदारों को कई नेताओं ने संबोधित किया जिनमे राजकमल,काशीराम,अवधेश कुमार,महेंद्र,रामु,कन्हैया लाल,छोटे लालआदि नेता गढ़ मौजूद रहे।


निशांत शुक्ला


नेपाल से यूपी के रास्ते टेरर फंडिंग

नई दिल्ली। नेपाल से उत्तर प्रदेश के रास्ते दिल्ली पहुंचाई जा रही थी टेरर फंडिंग की रकम नौली बाडर से आतंकी गतिविधियो को अंजाम देने के लिये सोनौली सबसे आसान रास्ता देश में आतंकी गतिविधियों को अंजाम देने के लिए टेरर फंडिंग की रकम नेपाल से यूपी के रास्ते दिल्ली पहुंचायी जाती थी। यहां से यह रकम अन्य प्रदेशों को भेजी जाती थी। यह खुलासा रिमांड पर लिए गए टेरर फंडिंग के चारों आरोपियों से पूछताछ में हुआ है। एटीएस को आतंकियों को धन मुहैया कराने के इस रैकेट से जुड़े कुछ और लोगों के नाम भी पता चले हैं। शुरुआती पूछताछ में इस बात की पुष्टि हो चुकी है कि जिन आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है वे रकम नेपाल से यूपी लाकर अन्य साथियों को देते थे। यह साथी रकम को दिल्ली पहुंचाते थे, जहां इसे आगे भेजा जाता था। एटीएस ने जब खीरी पुलिस के साथ आरोपियों की गिरफ्तारी की थी तब पूछताछ में यह जानकारी सामने आई थी कि दिल्ली से इस रकम को आतंकी गतिविधियों को संचालन में इस्तेमाल किया जा रहा था। नेपाल से आई रकम को दिल्ली तक पहुंचाने वाले जिन फहीम व सदाकत के नाम सामने आए वे बरेली के इज्जतनगर इलाके के निवासी हैं। एटीएस के साथ ही अन्य एजेंसियां भी इन दोनों की तलाश में जुट गई हैं। इसके अलावा दो और मुमताज व सिराजुद्दीन की तलाश हो रही है। एटीएस सूत्रों के मुताबिक अभी तक की पूछताछ में गिरफ्तार आरोपियों ने दिल्ली के अलावा कुछ और जगहों पर ऐसी रकम को पहुंचाए जाने की जानकारी दी है। एटीएस इस जानकारी की तस्दीक कर रही है।


विहिप,बजरंग दल का राष्ट्रपति को ज्ञापन

अजय श्रीवास्तव


महराजगंज। विश्व हिंदू परिषद, बजरंग दल ने जिलाधिकारी महोदय को ज्ञापन दिया। पश्चिम बंगाल में  10 अक्टूबर 2019 को  मुर्शिदाबाद में प्रकाश पाल और उनकी गर्भवती धर्मपत्नी व 8 वर्षीय बेटे की  जघन्य तरीके से हत्या कर दी गई घटना को संपूर्ण राष्ट्र का हिंदू समाज आहत हुआ है ।बांग्लादेशी मुस्लिम घुसपैठियों के अधिक संख्या के कारण उनके वोटों की लालची ममता सरकार भी ना केवल उनके और असंवैधानिककी दुष्कृतियों की अनदेखी कर रहे हैं बल्कि उनको हिंदू समाज पर और अधिक अत्याचार करने के लिए प्रोत्साहित कर रही है ।बजरंग दल द्वारा देशव्यापी  प्रदर्शन पर महामहिम राष्ट्रपति महोदय से मांग कर रहा है कि पश्चिम बंगाल सरकार बर्खास्त कर राष्ट्रपति शासन लगाया जाए ।प्रकाश पाल के परिवार के हत्याकांड की  सीबीआई जांच कराकर हत्यारो हत्यारों को मृत्युदंड दिया जाए। और बांग्लादेशी पश्चिम बंगाल में एनआरसी लागू किया जाए बांग्लादेशी मुस्लिम घुसपैठियों के वापस बांग्लादेश भेजा जाए। राष्ट्र विरोधी असामाजिक तत्वों की प्पहचान कर उन सब पर कानूनी कार्रवाई की जाए।नागरिकता बिल में संशोधन कर बांग्लादेश से प्रताड़ित होकर आए हिंदुओं को भारत में नागरिकता दी जाए व उनका संरक्षण का सुरक्षा प्रदान किया जाएगा। कार्यक्रम में उपस्थित विभाग संगठन मंत्री श्रीमानअमरजीत जी  जिला मंत्री अरविंद सिंह ,जिला मीडिया प्रभारी संतोष ,जिला सुरक्षा प्रमुख रिपु मद्धेशिया जी, ज़िला गौरक्षा प्रमुख दशरथ प्रसाद मौर्य जी ,सहसंयोजक अभिमन्यु चौरसिया जी,रवि प्रताप शर्मा जी, प्रदीप जी ,पवन जी, संदीप कश्यप जी ,सूरज गुप्ता जी रामबचन साहनी जी ,राजन जी आदि कार्यकर्ता उपस्थित रहे।


परिवार में चले लाठी-डंडे, आठ घायल

चंदौली के इस क्षेत्र में जमीनी विवाद को लेकर चले ईंट-पत्थर, आठ लोग घायल


चंदौली।जनपद के पड़ाव कोतवाली क्षेत्र के मढ़िया गांव में बुधवार सुबह उस समय अफरातफरी का माहौल बन गया जब भूमि विवाद पर दो पक्ष आपस में भिड़ गए। वहीं वारदात के दौरान दो पट्टीदारों में शुरू हुई कहासुनी धीरे धीरे खूनी संघर्ष में बदल गई। आपसी विवाद इतना बढ़ गया कि एक दूसरे की जान लेने पर बन आयी। कभी एक साथ रहने वाले परिवार के सदस्य आपस में ही ईंट-पत्थर चलाने लगे।


देखते ही देखते एक ही परिवार में आपस में जमकर लाठी डंडे चले और दोनों ही तरफ से लगभग आठ लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। सूचना पर पहुंची जलीलपुर चैकी पुलिस ने मामला शांत कराते हुए सभी को घायलावस्था में निजी अस्पताल में भर्ती कराया है। घायलों में पप्पू (45), अनिल (30), रामविलास (32), गुड्डू (34), लालमन (67), केशर (50), रामभरोस (35) तथा रामनिहोर (65) शामिल हैं। वहीं वारदात को लेकर पुलिस दोनों ही पक्षों से तहरीर का इंतजार कर रही है।


बदले के लिए युवती को मारी गोली

भानु प्रताप उपाध्याय


मुजफ्फरनगर। जनपद के मीरापुर क्षेत्र के गांव बलीपुरा में भाई की हत्या का बदला लेने के लिए युवती की गोली मारकर हत्या कर दी। हालांकि पुलिस मामले को संदिग्ध मान रही है। गांव बलीपुर में 7 जून को कुलदीप पुत्र बिल्लू की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। पुलिस ने इस मामले में गांव के ही मनीष व शिवकुमार पुत्रगण ब्रह्मपाल को कुलदीप की हत्या का दोषी मानते हुए जेल भेज दिया था। पुलिस का कहना था कि कुलदीप के आरोपियों की बहन के साथ अवैध संबंध थे।
बुधवार की सुबह मनीष व शिव कुमार की बहन रीना घर के बाहर झाड़ू लगा रही थी तभी उसे गोली मार दी गई। रीना की उपचार के दौरान जिला अस्पताल में मौत हो गई। रीना ने मरने से पहले पुलिस को बताया कि कुलदीप के भाई प्रदीप ने उसे गोली मारी है।
इंस्पेक्टर पंकज त्यागी ने बताया की मामला संदिग्ध है। मृतक युवती के भाइयों की जमानत नहीं हो पा रही थी। दबाव बनाने के लिए युवती की हत्या उसके परिजनों भी कर सकते हैं। फिलहाल मामले की जांच की जा रही है। शीघ्र ही राजफाश किया जाएगा।


गाजियाबाद:क्रिकेट मैच पर सट्टा,2 दबोचे

गाजियाबाद,मुरादनगर। पुलिस ने क्रिकेट मैच पर सट्टा लगाने वाले दो युवकों को गिरफ्तार किया हैl पुलिस ने उनके कब्जे से नौ हजार की नगदी वह मोबाइल बरामद किए हैंl दोनों युवक रोजाना लाखों रुपए का सट्टा लगाते थे lथाना प्रभारी ओपी सिंह ने बताया कि पुलिस को सूचना मिली कि नगर की विजय मंडी में एक मकान के अंदर क्रिकेट मैच पर सट्टा लगाने का कार्य चल रहा है। पुलिस ने पुलिस टीम लेकर मकान पर छापा माराl थाना प्रभारी ने बताया कि छापे के दौरान क्रिकेट मैच पर दो युवक सट्टा लगाते हुए पकड़े गएl जिनके अपना नाम विपिन निवासी मोहल्ला महाजनान व शेखर सिंघल निवासी विजय मंडी मुरादनगर हैं। थाना प्रभारी ने बताया कि पकड़े गए। युवकों के पास से तलाशी के दौरान नौ हजार की नगदी व मोबाइल बरामद किए गए हैं। दोनों को गिरफ्तार कर पुलिस ने जेल भेज दिया है थाना प्रभारी ने बताया कि करीब 10 साल से यह दोनों क्रिकेट मैच पर सट्टा लगा रहे थेl दोनों को पकड़ने वाली टीम में कस्बा चौकी प्रभारी भूपेंद्र सिंह भी शामिल रहेl दोनों सट्टेबाजों के पकड़े जाने से नगर वासियों ने राहत की सांस ली है।


हरियाणा की राजनीति में होगा धमाका

राणा ओबराय
पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष तंवर ने राष्ट्रीय खोज के सम्पादक राणा ओबराय को बताया राजनीति में आज होगा नया धमाका, दुष्यन्त चौटाला व अशोक तंवर की ज्वांइट प्रेस कॉन्फ्रेंस



दिल्ली। कहते हैं राजनीति में कुछ भी हो सकता है।कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष अशोक तँवर आज जेजेपी के साथ प्रेसवार्ता करके कुछ खास घोषणा कर सकते हैं। कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अशोक तंवर ने राष्ट्रीय खोज/भारतीय न्यूज के सम्पादक राणा ओबराय से फ़ोन पर हुई बात में प्रेसवार्ता की पुष्टि करते हुए कहा कि इस प्रेसवार्ता में सर्जिकल स्ट्राइक जैसा धमाका होगा।दुष्यंत चौटाला और अशोक तंवर इस प्रेस कॉन्फ्रेंस को सांझा तौर पर करेंगे। माना जा रहा है कि आज अशोक तवंर और दुषंयत चौटाला बड़ा फैसला ले सकते है । अशोक तंवर जजपा में शामिल हो सकते है?


मोदी ने प्रत्याशी की पीठ थपथपाई

राणा ओबराय
पीएम मोदी ने मंच से राज्यसभा सांसद एवं इंद्री विधानसभा से भाजपा उम्मीदवार रामकुमार कश्यप को अपना साथी बताकर थपथपाई पीठ
कुरुक्षेत्र। हरियाणा भाजपा पार्टी द्वारा कुरुक्षेत्र में आयोजित जनसभा में मुख्य वक्ता के रूप में बोलते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जब विधानसभा उम्मीदवारों का जनता से परिचय करवाया तो उस समय पंडाल में और मंच पर बैठे सभी नेता और कार्यकर्ता करता हैरान हो गए। जब प्रधानमंत्री मोदी ने इंद्री विधानसभा से भाजपा के उम्मीदवार राम कुमार कश्यप को अपना साथी बताकर उसकी पीठ थपथपा दी। इससे हरियाणा की जनता में एक खास संदेश गया है। राम कुमार कश्यप का कद और प्रतिष्ठा मनोहर लाल खट्टर से कम नहीं है। इसमें भी कोई संदेह नहीं रह गया। यदि हरियाणा में भाजपा की सरकार बनती है तो राम कुमार कश्यप अवश्य ही कैबिनेट मंत्री के रूप में शपथ ले सकते हैं!


कई मोदी नाम से होना चाहते हैं पार

राणा ओबराय
हरियाणा विधानसभा चुनाव में मोदी जाप के सहारे कई नेता होना चाहते हैं पार
चण्डीगढ़। भाजपा का हरियाणा विधानसभा चुनाव में मिशन का लक्ष्य लेकर चल रही भाजपा का हरियाणा में ग्राफ़ लगातार गिर रहा है। बीजेपी के कई दिग्गज नेताओं को अब मोदी लहर का ही भरोसा है। प्रदेश भर में मुख्यमंत्री मनोहर लाल की रैलियों के विफ़ल होने के चर्चे आम हैं। प्रधानमंत्री मोदी आज बल्लबगढ़ से अपनी रैलियों का श्री गणेश करेंगे और माना जा रहा है कि उनकी पहली रैली सफल होगी लेकिन रैली के पहले खाली कुर्सियों की तस्वीरें और वीडियो बनाने वाले भी रैली स्थल पर रैली के समय से काफी पहले पहुँच जाएंगे और शाम तक कुछ वीडियो सामने भी आ जायेंगे। सूत्रों की माने तो प्रदेश भर में 10 से 15 भाजपा उम्मीदवार ही अपने मेहनत से जीत सकते हैं बाकी सभी मोदी भरोसे हैं। यहाँ तक कि शिक्षा मंत्री रामबिलास शर्मा, वित्त मंत्री कैप्टन अभिमन्यु और कृषि मंत्री ओपी धनकड़, राव इंद्रजीत के गढ़ कहे जाने वाली रेवाड़ी, और उचाना कला की सीटें भी जबरदस्त फंसी हुई बताई जा रहीं हैं। सबको अब मोदी लहर ही बचा सकती है और अगर लहर न चली तो खट्टर के कई दिग्गज शेर धराशाई हो सकते हैं। मोदी-राहुल, रैलियों की भीड़ पर होगी नज़र कई सीटों पर भाजपा के बागी नेता भाजपा का खेल ख़राब कर सकते हैं। भाजपा के नाराज कार्यकर्ता अब अपने विधायकों और मंत्रियों को सबक सिखाने का प्लान बना रहे हैं जिसके चलते मिशन 75+ का लक्ष्य अब बहुत दूर दिख रहा है। सट्टा बाजार में पहले भाजपा को 78 सीटें बताया गया फिर 71 फिर 67 फिर 58 और अब 55 बताया जा रहा है जिसे देख लगता है कि भाजपा का ग्राफ लगातार गिरता जा रहा है। अब पीएम मोदी ही कोई कमाल कर सकते हैंं।


किस करते हुए पत्नी की जीभ काटी

अहमदाबाद। गुजरात के अहमदाबाद में एक हैरान करने वाली घटना सामने आई है, यहां एक शख्स ने किस  करते समय अपनी पत्नी की जीभ काट डाली। घटना के बाद आरोपी ने पुलिस  के सामने अपना जुर्म कबूल कर लिया है, लेकिन इसके पीछे उसने अजीब तर्क दिया। उसने पुलिस को बताया कि किस करते समय बीवी और उसकी जीभ चिपक गई थी और इसकी वजह उसे मजबूरन जीभ काटनी पड़ी।



दरअसल 9 अक्टूबर को एक आदमी ने अपनी बीवी की जीभ चाकू से काट दी । अयूब नाम का ये आदमी इत्र बेचा करता था । बीवी का नाम तसलीम, जो एक अस्पताल में काम करती थीी। दोनों कमरे में सोए थे, अयूब ने रात में फ्रेंच किस की बात कहीी। बीवी ने जैसे ही जीभ बाहर निकालीी। अयूब ने चाकू से जीभ का एक हिस्सा काट दियाा। घर बंद किया भाग गयाा। बीवी ने अपनी बहन को कॉल किया, घटना बताई। मदद मांगी, हल्ला भी मचाया, जिससे आसपास वाले इकट्ठा हो गए। इसके बाद घायल महिला को सरदार वल्लभभाई अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती कराया गया।इधर पुलिस ने फरार आरोपी अयूब दो दिन बाद गिरफ्तार कर लिया हैै।


जब अयूब से पुलिस ने पूछताछ की तो उन्होंने बताया कि किस करते हुए दोनों उत्तेजित हुए, उस दौरान पता लगा कि दोनों की जीभ आपस में फंस गई है। जीभ अलग करने की बहुत कोशिश की। इसी दौरान पत्नी की जीभ कट गई। बाकी भागने वाली बात पर ये बताया कि बहुत खून बह गया था, इसलिए घबराहट में वो मौके से भाग गया। लेकिन पुलिस इसकी मनगढ़त बातो को पर विश्वास नहीं कर रही है। इधर तसलीम बोल नहीं पा रही हैं। लिक्विड डाईट पर हैं। बताया जाता है कि आयुष का इतिहास भी बहुत सही नहीं है। तसलीम की ये दूसरी शादी थी और अयूब की तीसरी। बताया जा रहा है कि अयूब पर अपनी पहली बीवी परवीन को ज़िंदा जलाकर मारने के आरोप हैं। दूसरी शादी में भी वो घरेलू हिंसा करता था, जिस कारण दूसरी बीवी ने अयूब को छोड़ दिया। तीसरी शादी मार्च 2018 में हुई। वहां भी अयूब काम को लेकर ढिलाई बरतता था। बीवी से झगड़ा करता था, और अब ये अपराध कर डाला।


जानकारी के अनुसार गिरफ्तारी के समय वो अजीब-अजीब सी हरकतें कर रहा था। कभी आसमान घूरता, कभी नाक में उंगली करता। शायद ये दिखाने की कोशिश कर रहा था उसकी मानसिक स्थिति सही नहीं है। बहरहाल वो साबरमती जेल में बंद है। तसलीम का इलाज़ हो रहा है।


अध्यक्ष की टीम इंडिया को प्रतिक्रिया


बीसीसीआई अध्यक्ष बनने के बाद सौरव गांगुली ने टीम इंडिया को दी प्रतिक्रिया


नई दिल्ली। भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व सलामी बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग ने अपने साथी और पूर्व कप्तान सौरव गांगुली केबीसीसीआई अध्यक्ष बनने को भारतीय क्रिकेट के लिए अच्छा संकेत बताया है। सौरव गांगुली के हाथों में अब भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड की कमान होगी। इस पद पर चुने जाने के बाद ही उन्होंने टीम इंडिया पर अपनी प्रतिक्रिया दी। गांगुली ने मंगलवार को कहा की भारत को बड़े टूर्नामेंट में जीत हासिल करनी चाहिए।


सौरव गांगुली ने मंगलवार को BCCI के अध्यक्ष चुने जाने के बाद कोलकाता में टीम इंडिया के प्रदर्शन पर बात की। उनका कहना था कि विराट कोहली की कप्तानी वाली टीम बहुत अच्छा प्रदर्शन कर रही है लेकिन उनको आईसीसी के बड़े टूर्नामेंट के फाइनल में जीत हासिल करनी चाहिए। भारतीय टीम हाल ही में विश्व कप सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड के हाथों हारकर बाहर हो गई थी।


बुधवार को भारतीय कप्तान विराट कोहली ने सोशल मीडिया पर एक तस्वीर पोस्ट की है। इस तस्वीर में उन्होंने लिखा है कि चाहे जो भी हो खुश रहो। अब इस ट्वीट का मतलब अलग अलग निकाला जा सकता है। कुछ लोग विराट के इस ट्वीट को गांगुली के टीम इंडिया पर किए गए कमेंट से जोड़कर देख सकते हैं तो वहीं कुछ कोच रवि शास्त्री और गांगुली के तल्ख रिश्ते से भी जोड़ सकते हैं।


पूर्व सलामी बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग ने मंगलवार को गांगुली को नई भूमिका के लिए बधाई दी और साथ ही कहा कि यह भारतीय क्रिकेट के लिए महान पल है। गांगुली हालांकि एक साल से भी कम समय के लिए बीसीसीआई बॉस होंगे। सितम्बर 2020 में वह कूलिंग पीडियड में चले जाएंगे क्योंकि वह बीते पांच साल से सीएबी के अध्यक्ष हैं। बीसीसीआई संविधान के मुताबिक कोई भी अधिकारी सिर्फ छह साल के लिए किसी पद पर रह सकता है। अभी बीसीसीआई की कमान प्रशासकों की समिति के पास है, लेकिन 23 अक्टूबर को यह समिति गांगुली और उनकी नई टीम को जिम्मेदारी सौंपकर मुक्त हो जाएगी।


30 नवंबर तक प्रशासनिक छुट्टियां निरस्त

लखनऊ। अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट के फैसले से ठीक पहले उत्तर प्रदेश सरकार ने बुधवार को बड़ा एलान किया है। पुलिस प्रशासन के सभी अफसरों की छुट्टियां 30 नवंबर तक के लिए रद्द कर दी गईं हैं। उन्हें मुख्यालय में ही रहने के निर्देश जारी किए गए हैं।
इससे पहले पुलिस महकमे ने वहां सुरक्षा व्यवस्था बढ़ाने की तैयारियां शुरू कर दी थीं। अग्रिम आदेश तक अयोध्या में पुलिस अधीक्षक से लेकर सिपाही तक को तैनात कर दिया गया है। डीजीपी मुख्यालय की ओर से सीबीसीआईडी, भ्रष्टाचार निवारण संगठन, ईओडब्ल्यू और पीएसी के मुखिया के साथ ही प्रयागराज, गोरखपुर और वाराणसी जोन के एडीजी को पत्र भेजकर पुलिस अधीक्षक से लेकर सिपाही तक की मांग की गई है।
अयोध्या मामले में सर्वोच्च न्यायालय के आने वाले फैसले को देखते हुए पुलिस महकमे ने वहां सुरक्षा व्यवस्था बढ़ाने की तैयारियां शुरू कर दी हैं। अग्रिम आदेश तक अयोध्या में पुलिस अधीक्षक से लेकर सिपाही तक को तैनात कर दिया गया है।
डीजीपी मुख्यालय की ओर से सीबीसीआईडी, भ्रष्टाचार निवारण संगठन, ईओडब्ल्यू और पीएसी के मुखिया के साथ ही प्रयागराज, गोरखपुर और वाराणसी जोन के एडीजी को पत्र भेजकर पुलिस अधीक्षक से लेकर सिपाही तक की मांग की गई है। पीएसी से एक एसपी, 4 अपर पुलिस अधीक्षक और 6 पुलिस उपाधीक्षक को मंगलवार से ही अयोध्या को उपलब्ध कराने के निर्देश जारी किए गए हैं। 
30 इंस्पेक्टर, 50 सब इंस्पेक्टर, 10 महिला सब इंस्पेक्टर, 50 मुख्य आरक्षी और 200 आरक्षी और 100 महिला आरक्षी को मंगलवार को ही अयोध्या पहुंचने के निर्देश दिए गए। इनमें सीबीसीआईडी, ईओडब्ल्यू और भ्रष्टाचार निवारण संगठन में तैनात 30 इंस्पेक्टरों के अलावा प्रयागराज जोन से 10 सब इंस्पेक्टर, 4 महिला सब इंस्पेक्टर, 10 मुख्य आरक्षी, 60 आरक्षी और 40 महिला आरक्षी उपलब्ध कराने के निर्देश दिए गए हैं। 
गोरखपुर जोन को 20 सब इंस्पेक्टर, 2 महिला सब इंस्पेक्टर, 20 मुख्य आरक्षी, 70 आरक्षी और 20 महिला आरक्षी उपलब्ध कराने के निर्देश दिए गए हैं। वाराणसी जोन को 20 सब इंस्पेक्टर, 4 महिला सब इंस्पेक्टर, 20 मुख्य आरक्षी, 70 आरक्षी और 40 महिला आरक्षी उपलब्ध कराने को कहा गया है। 
वहीं, दीपोत्सव के दौरान सुरक्षा व्यवस्था के लिए 7 अपर पुलिस अधीक्षक और 20 पुलिस उपाधीक्षक के साथ 20 इंस्पेक्टर, 70 सब इंस्पेक्टर और 500 सिपाही व 7 कंपनी पीएसी बल उपलब्ध कराया गया है।


6 दिसंबर से मंदिर निर्माण शुरू:साक्षी

लखनऊ। जहां एक ओर अयोध्या में राम जन्मभूमि व बाबरी मस्जिद जमीन विवाद को लेकर आखिरी दिन की सुनवाई सुप्रीम कोर्ट में जारी है, वहीं सियासी दलों की प्रतिक्रियाओं का दौर भी शुरू हो गया है। उन्नाव से बीजेपी सांसद साक्षी महाराज ने दावा किया है कि 6 दिसम्बर तक अयोध्या में भव्य राम मंदिर निर्माण का काम शुरू हो जाएगा। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृहमंत्री अमित शाह और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जैसे महापुरुषों की वजह से देश का यह सपना पूरा होगा।


न्यूज18 से बातचीत में बीजेपी सांसद साक्षी महाराज ने कहा, "6 दिसंबर तक राम मंदिर निर्माण शुरू हो जाएगा। तय वक़्त में सुनवाई पूरी करने के लिए सुप्रीम कोर्ट का धन्यवाद। नरेंद्र मोदी और अमित शाह जैसे महापुरुषों की वजह से हमारा सपना पूरा होगा।


हिन्दू-मुस्लिम मिल कर राम मंदिर का निर्माण करें


साक्षी महाराज यहीं नहीं रुके, उन्होंने कहा कि हिन्दू-मुस्लिम मिल कर राम मंदिर का निर्माण करें। साक्षी महाराज ने कहा कि सुन्नी वक़्फ़ बोर्ड भी इस बात को स्वीकार करे की बाबर उनका पूर्वज नहीं आक्रांता था।


पाक में बम विस्फोट से 1 मरा,10 घायल

क्वेटा। पाकिस्तान के दक्षिण पश्चिम बलूचिस्तान प्रांत की राजधानी क्वेटा में मंगलवार को अज्ञात आतंकवादियों द्वारा किए गए विस्फोट में एक पुलिसकर्मी की मौत हो गई और 10 अन्य लोग घायल हो गए।
क्वेटा पुलिस के उपमहानिरीक्षक अब्दुल रजाक चीमा ने समाचार एजेंसी सिन्हुआ से कहा कि प्रारंभिक जांच के अनुसार आतंकवादियों ने उस समय विस्फोट किया, जब पुलिस वाहन शहर में नियमित गश्त के लिए वहां से गुजर रहा था।क्वेटा की मुख्य सड़क पर खड़ी पुलिस के मोबाइल वाहन के पास यह धमाका हुआ। पुलिस ने बताया कि एक मोटरसाइकिल में बम लगाया गया था। धमाके के बाद मोटरसाइकिल के परखच्चे उड़ गए। वहीं, एक रिक्शा और पांच अन्य मोटरसाइकिलों को भी नुकसान पहुंचा। इसके अलावा पास खड़ी चार अन्य वाहनों में भी आग लग गई, जिस पर पुलिस ने काबू पा लिया। इलाके में सुरक्षाकर्मियों की तैनाती कर दी गई है। पुलिस मामले की जांच में लगी है। 
उन्होंने कहा, “देसी बम सड़क किनारे खड़ी एक मोटरसाइकिल में लगाकर रखा गया था। घायलों में राहगीर और वे पुलिकर्मी शामिल हैं, जो वाहन पर सवार थे।”घायलों को क्वेटा के सिविल हास्पिटल पहुंचाया गया, जहां के चिकित्सा अधीक्षक वसीम बेग ने कहा कि सभी घायलों की हालत स्थिर है।


भाजपा के अलावा विकल्प नहीं: योगी

नागपुर। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ महाराष्ट्र में बीजेपी के चुनाव प्रचार के लिए पहुंचे। महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव के लिए 21 अक्टूबर को वोटिंग होनी है। योगी आदित्यनाथ नागपुर में दो सभाओं को संबोधित करने पहुंचे। इस दौरान उन्होंने पाकिस्तान और इमरान खान पर जमकर हमला बोला। उन्होंने और भी कई मुद्दों को लेकर विपक्ष पर निशाना साधा और बीजेपी को वोट देने के लिए अपील की। महाराष्ट्र चुनाव को लेकर उनसे विशेष बातचीत की।


योगी आदित्यनाथ ने कहा कि प्रधानमंत्री का काम इतना शानदार है कि इस बार चुनाव जीतना आसान दिखता है। उन्होंने कहा, "स्थानीय मुद्दे भी बेहद महत्वपूर्ण हैं। लेकिन राष्ट्रवाद का मुद्दा जरूर लोगों के जेहन में है, क्योंकि 370 हटाने और ट्रिपल तलाक जैसी प्रथा को खत्म करने का बड़ा फैसला मोदी सरकार ने लिया है और इसका असर है।"


भागवत के बयान से सहमत नहीं माया

मुंबई। बसपा सुप्रीमो मायावती ने आरएसएस प्रमुख भागवत के 'हिंदू राष्ट्र' वाले बयान पर असहमति जताई है। बहिन जी ने कहा कि बाबासाहेब आंबेडकर ने धर्मनिरपेक्षता के आधार पर संविधान बनाया था। महाराष्ट्र में 21 अक्टूबर को होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए अपनी पार्टी का प्रचार करते हुए उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि नरेंद्र मोदीनीत सरकार की 'विफल' नीतियों की वजह से मौजूदा आर्थिक सुस्ती आई है। उन्होंने दावा किया कि विपक्षी पार्टी कांग्रेस और सत्तारूढ़ भाजपा की सरकारी नौकरियों में पदोन्नति के लिए दलितों और अनुसूचित जनजातियों के आरक्षण को रोकने के लिए 'आंतरिक समझ' है. मायावती ने कहा, 'दलितों और अनुसूचित जनजातियों के हितों के लिए बनाए गए कानूनों को सरकार ने निष्प्रभावी कर दिया है। इससे देश में वंचितों का शोषण करने वालों को बढ़ावा मिला है।''
उन्होंने कहा कि देश में धार्मिक अल्पसंख्यकों की स्थिति भी चिंताजनक है। बसपा नेता ने कहा, 'हाल ही में आरएसएस प्रमुख ने एक बयान में कहा था कि इस देश में मुस्लिम खुश हैं क्योंकि भारत एक 'हिंदू राष्ट्र' है। बसपा इस बयान से सहमत नहीं है। आरएसएस प्रमुख को इस तरह का बयान देने से पहले सच्चर समिति की रिपोर्ट पढ़नी चाहिए।'' न्यायमूर्ति राजेंद्र सच्चर की अध्यक्षता में यह रिपोर्ट तैयार की गई थी। दलित नेता ने कहा, 'हम आरएसएस प्रमुख के हिंदू राष्ट्र के बयान से सहमत नहीं हैं। क्योंकि बाबासाहेब आंबेडकर ने सिर्फ हिंदुओं को ध्यान में रखकर संविधान नहीं तैयार किया था। उन्होंने धर्मनिरपेक्षता के आधार पर सभी धर्म के लोगों का ख्याल रखा था। मायावती ने कहा, 'भारत एक धर्मनिरपेक्ष देश है न कि हिंदू राष्ट्र है।' विजयदशमी के अवसर पर आयोजित एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए आरएसएस प्रमुख ने कहा था कि भारत हिन्दुस्तान है और हिंदू राष्ट्र है।


छात्रों को कुरीतियों के विरुद्ध किया जागरूक

बालोद। राष्ट्रीय विधि सेवा प्राधिकरण द्वारा संचालित योजनाओं के क्रियावन्वयन एवं प्रचार प्रसार हेतु तथा छत्तीसगढ़ राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण बिलासपुर द्वारा जारी स्टेट प्लान अफ़ एक्शन के निर्देशानुसार एवं जिला न्यायाधीश /जिला विधिक सेवा प्राधिकरण बालोद के अध्यक्ष श्री के विनोद कुजूर के मार्गदर्शन मे माँ बहादुर कलारिन कला एवं विज्ञानं महाविद्यालय गुरु द्वारा राष्ट्रीय सेवा योजनाओं के तहत ग्राम कुलिया मे सात दिवसीय विशेष शिविर मे विधिक जागरूकता शिविर आयोजित किया गया l उक्त शिविर मे मुख्य न्यायायिक मजिस्ट्रेट बालोद संतोष ठाकुर द्वारा ग्रामीण छेत्रों मे व्याप्त सामाजिक कुरीति जादू, टोना एवं छत्तीसगढ़ टोनही प्रताड़ना अधिनियम के संबंध मे जानकारी देते हुए बताया की अगर कोई भी व्यक्ति किसी व्यक्ति महिला बालक एवं बालिका को टोनही टोनहा कहता है तो उसके लिए सज़ा का प्रावधान है इसलिए किए भी व्यक्ति को टोनही टोनहा नहीं कहना चहिये एवं समाज मे व्याप्त इस कुरीति को समाप्त करने के प्रयास करने के संबंध मे बताया गया l अवयस्क बालक बालिकाओं के साथ बढ़ती हुई लैंगिक अपराधों को देखते हुए लैंगिक अपराधों से बालको का संरछण अधिनियम 2012 के संबंध मे ग्राम वाशियो को जानकारी प्रदान किया गया l मुख्य न्याययिक मजिस्ट्रेट बालोद द्वारा भारतीय संविधान मे नागरिकों के मौलिक अधिकार मौलिक कर्तव्य के सम्बन्ध मे बताते हुए अधिकारों एवं कर्तव्यों का उपयोग करने के लिए बताया गया l इसके अतिरिक्त उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम के संबंध मे जानकारी देते हुए बताया गया की ज़ब भी कोई सामान खरीदते है तो उसका रसीद दुकानदार से लेना चाहिए जिससे क्रय किये गए सामग्री खराब हो तो रशीद दिखा कर दुकानदार को वापस कर सकते है यदि दुकानदार क्रय किये गए सामग्री को वापस नहीं लेता है तो रसीद के माध्यम से उपभोक्ता फोरम मे वाद प्रस्तुत किया जा सकता है और क्रय किये गए सामग्री के भुगतान की गई राशि वापस प्राप्त किया जा सकता है इसके अतिरिक्त ग्रामीण जनो को बाल विवाह से संबंधित अपराधों के संबंध मे यह भी जानकारी डी गईं की ज़ब लड़का या लड़की विवाह योग्य हो तभी उनका विवाह करना चाहिए बाल विवाह कानूनन अपराध है इसकी जानकारी दी गईं एवं बच्चों को पढ़ाई के साथ साथ खेल खुद मे भी विशेष रूप से हिस्सा लेना चाहिए कहते हुए बच्चों को पढ़ाई लिखाई एवं खेल खुद के लिए प्रोत्साहित किया गया तथा समाजमे सकारात्मक योगदान देने के लिए बताया गया l
न्यायायिक मजिस्ट्रेट पार्थ तिवारी अपने उदबोधन मे वर्तमान मे बढ़ती हुई सडक दुर्घटना को देखते हुए संसोधित मोटर व्हीकल एक्ट के संबंध मे जानकारी देते हुए बताया की वहां चालक के पास बहन का कागजात लाइसेंस वहां का बीमा होना जरुरी है एवं ओवर स्पीड नहीं चलना की जानकारी दी गई और लोगो को यह बतलाया गया की यदि मोटर सायकल चला रहे हो तो हेलमेट पड़ने कर सुरछित रूप से वहां चलाने की हिदायत दी गई यदि कार मे यात्रा कर रहे हो तो सीट बेल्ट लगा कर यात्रा करनी चाहिए शराब पी कर वहां नहीं चलना चाहिए इसके अतिरिक्त नशा मुक्ति के सम्बन्ध मे भी जानकारी दी गईं l
उप पुलिस अधीक्षक दिनेश सिन्हा द्वारा भी ग्रामीण जानो को पुलिस अधिनियम एवं चिट फंड अधिनियम के संबंध मे जानकारी दी गईं l


सुनवाई पूरी, फैसला रखा सुरक्षित

नई दिल्ली। अयोध्या मामले पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई पूरी हो गई है। अदालत ने फैसला सुरक्षित रखा है। 23 दिन में सुप्रीम कोर्ट का फैसला आएगा। तय वक्त से एक घंटे पहले ही सुनवाई खत्म हो गई। 
अदालत ने कहा कि अगले तीन दिन तक इस मामले में दस्तावेज जमा कराए जा सकते हैं। हिंदू महासभा के वकील वरुण सिन्हा ने बताया कि सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुरक्षित रखा है और मामले पर फैसला 23 दिन में आएगा। 
अदालत में बुधवार को राम जन्मभूमि और बाबरी मस्जिद मामले की लगतार 40वें दिन सुनवाई हुई। पांच सदस्यीय संवैधानिक पीठ इस मामले की सुनवाई की। सुनवाई शुरू होते ही मुख्य न्यायाधीश (सीजेआई) ने साफ कर दिया कि शाम को पांच बजे मामले में अंतिम सुनवाई होगी। हालांकि सुनवाई एक घंटे पहले चार बजे ही खत्म हो गई। मुस्लिम और हिंदू पक्ष ने अपनी-अपनी दलीलें अदालत के सामने पेश कीं। इस दौरान कोर्टरूम में ड्रामा देखने को मिला। मुस्लिम पक्ष के वकील राजीव धवन ने हिंदू महासभा के वकील द्वारा पेश किए गए नक्शे को फाड़ दिया।


खास बातें
सुनवाई एक घंटे पहले शाम चार बजे ही खत्म हो गई
23 दिन बाद आएगा सुप्रीम कोर्ट का फैसला
मध्यस्थता पैनल ने अपनी रिपोर्ट सुप्रीम कोर्ट को सौंपी
सुन्नी वक्फ बोर्ड के केस वापस लेने, मध्यस्थता करने या दावा छोड़ने की बात अफवाह: मुस्लिम पक्षकार
महंत नृत्य गोपाल दास समेत अनेक की सुरक्षा बढ़ाई गई।


निर्जला व्रत रख स्त्रियाँ करेगी चंद्र दर्शन

पति-पत्नि के बीच प्रेम और रिश्ते का प्रतीक पर्व करवा चौथ व्रत 17 अक्टूबर को मनेगा। इस दिन घर-घर में पति की देव रूप में पूजा होगी। सुबह से ही महिलाएं निराहार व्रत रखेंगी। शाम को व्रतीधारी महिलाएं सुहाग की रक्षा के लिये चाँद की रौशनी के बीच पति की आरती, तिलक और चंद्रमा के दर्शन करते हुए अर्घ्य समर्पित कर व्रत परायण करेंगी।


इस दिन कई स्थानों पर सामूहिक पूजा के आयोजन भी होंगे। इस दिन सुहागिन महिलाएं पति की दीर्घायु के लिये करवा चौथ का व्रत और इसकी रस्में पूरी निष्ठा से करती हैं। इससे परिवार में सुख – शांति, समृद्धि, मान – सम्मान, लक्ष्मी की वृद्धि, दीर्घायु जीवन की प्राप्ति होती है। इस दिन सुहागिन महिलाएं भगवान शिव, माता पार्वती और कार्तिकेय के साथ गणेशजी की पूजा के बाद कथा सुनने का विधान है।


ज्योतिषियों के अनुसार रोहिणी नक्षत्र और चंद्रमा में रोहिणी का योग होने से मार्कण्डेय और सत्याभामा योग इस करवा चौथ पर बन रहा है। इस मौके पर सुहागिन महिलाएं पति की लंबी उम्र के लिये निर्जला व्रत रखेंगी, और पूजा अर्चना करेंगी।


चंद्रदेवता के दर्शन करेंगी : रात्रि में महिलाएं घरों की छतों पर खड़े होकर पहले छलनी से चंद्रदेवता के दर्शन करेंगी, फिर उसी छलनी से पति के दर्शन करेंगी। इस दौरान पति की लंबी उम्र के लिये कामना की जायेगी। चंद्रदर्शन के बाद महिलाएं निर्जला व्रत का पारायण करेंगी।


उच्च राशि में रहेगा चंद्र : ज्योतिष के जानकारों के अनुसार इस बार करवा चौथ का पर्व खास संयोग में रहेगा। करवा चौथ गुरुवार को है। इस दिन गणेश चतुर्थी व्रत भी रहेगा, इसके साथ ही चंद्रमा अपनी उच्च राशि वृषभ में विराजमान रहेगा। इस लिहाज़ से करवा चौथ का दिन खास होगा।


पूजन सामग्री : करवा, सीकें 06, रोली, सिंदूर, हल्दी, चावल, पुष्प, मिष्ठान, कपूर, अगरबत्ती, शुद्ध घी का दीपक, कलावा, दूर्वा, शुद्ध जल से भरा कलश, घर में बने पकवान आदि से पूजा की जाती है। पूजा के बाद सुहागिन महिलाएं छलनी से चंद्रमा दर्शन के साथ पति के दर्शन करती हैं। पति के हाथों से ही जल और फल ग्रहण होते ही व्रत का परायण होगा।


चिदंबरम को गिरफ्तार कर भेजा तिहाड

नई दिल्ली। विशेष अदालत ने प्रवर्तन निदेशालय को पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम से तिहाड़ जेल में पूछताछ और अरेस्ट की इजाजत दे दी है। आज ईडी की टीम पूछताछ के लिए तिहाड़ जेल पहुंची और 2 घंटे तक पूछताछ की। इस बीच चिदंबरम के पुत्र और कांग्रेस सांसद कार्ति चिदंबरम मां नलिनी के साथ तिहाड़ पहुंचे। ईडी ने पूर्व वित्त मंत्री की गिरफ्तारी की मांग की है, जिस पर कोर्ट ने जेल में पूछताछ की इजाजत दी है। अदालत ने कल दिए अपने आदेश में कहा था कि पूछताछ के बाद आए निष्कर्षों के बाद एजेंसी अरेस्ट करने पर अपना फैसला ले सकती है।


कोर्ट ने तिहाड़ जेल में बंद चिदंबरम से पूछताछ की दी इजाजत
स्पेशल जज अजय कुमार कुहार ने कहा, 'मनी लॉन्ड्रिंग के आरोपी को प्रवर्तन निदेशालय अरेस्ट कर सकती है अगर पर्याप्त सबूत हैं तो, इसमें कोर्ट को दखल देने की जरूरत नहीं है। अगर आरोपी पहले से ही किसी अन्य केस में हिरासत में है तो पूछताछ के लिए अनुमति की आवश्यकता है।' जज ने अपने फैसले में आगे कहा, 'कोर्ट की अनुमति के साथ इस तरह की पूछताछ में अगर परिस्थितियां गिरफ्तारी के लिए वाजिब हैं तो ऐसा किया जा सकता है।'



तिहाड़ पहुंचे कार्ति और नलिनी
पूछताछ के लिए दिया गया 30 मिनट का समय
बता दें कि आईएनएक्स मीडिया मनी लॉन्ड्रिंग केस में राउज एवेन्यू अदालत ने प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) को पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम को गिरफ्तार करने और पूछताछ करने की अनुमति दे दी है। अदालत ने जांच एजेंसी को 30 मिनट का वक्त पूछताछ के लिए तय किया है। सलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कोर्ट के सामने चिदंबरम की गिरफ्तारी के लिए दलील पेश की थी।


चिदंबरम के वकील ने अलग से गिरफ्तारी की मांग का किया विरोध
तुषार मेहता ने पूर्व वित्त मंत्री की गिरफ्तारी की मांग करते हुए कहा था, 'आईएनएक्स मामले में मनी लॉन्ड्रिंग, सीबीआई के केस से अलग है और इसमें उन्हें गिरफ्तार कर पूछताछ करने की जरूरत है।' चिदंबरम का पक्ष रखते हुए वरिष्ठ वकील और कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल ने कहा था कि पूरा केस सीबीआई की एफआईआर पर ही आधारित है। इसमें अलग से गिरफ्तारी की आवश्यकता नहीं है।


SC में चिदंबरम, अपमानित करना चाहती है सीबीआई
आईएनएक्स मीडिया भ्रष्टाचार मामले में जेल में बंद पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने इससे पहले जमानत के लिए सुप्रीम कोर्ट में गुहार लगाई थी। चिदंबरम ने कहा कि सीबीआई उन्हें नीचा दिखाने (अपमानित करने) के लिए जेल में रखना चाहती है। चिदंबरम की तरफ से सीनियर वकील कपिल सिब्बल और अभिषेक मनु सिंघवी ने सुप्रीम कोर्ट में जमानत याचिका दायर की है।


राष्ट्रवाद, राष्ट्र निर्माण का आधार:मोदी

अकोला। महाराष्ट्र के अकोला में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चुनावी रैली को संबोधित करते हुए कहा कि पहले से ज्यादा मजबूत सरकार बनाने के लिए आज मैं आपसे आशीर्वाद मांगने आया हूं। प्रधानमंत्री ने कहा कि ये वीर सावरकर के ही संस्कार हैं कि राष्ट्रवाद को हमने राष्ट्र निर्माण के मूल में रखा है। वहीं दूसरी तरफ वो लोग हैं जिन्होंने बाबा साहब का कदम-कदम पर अपमान किया, उन्हें दशकों तक भारत रत्न से दूर रखा। ये वो लोग हैं, जो वीर सावरकर का अपमान करते हैं।


 अनुच्छेद 370 की चर्चा करते हुए पीएम ने कहा कि जम्मू कश्मीर और लद्दाख में बाबा साहब आंबेडकर के संविधान को पूरी तरह लागू न करने के प्रयासों के पीछे भी ऐसे ही लोगों की दुर्भावना है। मैं हैरान हूं कि छत्रपति शिवाजी की धरती पर आजकल राजनीतिक स्वार्थ के कारण ऐसी आवाजें उठाई जा रही हैं और ये खुलेआम कह रहे हैं कि महाराष्ट्र के चुनाव से अनुच्छेद 370 का क्या लेना देना? महाराष्ट्र से जम्मू-कश्मीर का क्या संबंध हैं।  पीएम ने विपक्ष पर हमला बोलते हुए कहा कि अनुच्छेद 370 हटने से आप सभी खुश हैं, लेकिन उनका चेहरा उतर गया है, उन्हें दर्द हो रहा है। इन्हें एक भारत-श्रेष्ठ भारत नहीं चाहिए। इन्हें बंटा भारत चाहिए, लड़ता हुआ भारत चाहिए। यही इनकी राजनीतिक चालें हैं, जो आज चौपट होती जा रही हैं।


प्रधानमंत्री ने कहा कि याद कीजिए एक समय था जब आए दिन महाराष्ट्र में बम धमाके होते थे, मुंबई दहल जाता था। उस समय जो बम धमाके हुए उनके जो मास्टरमाइंड सामने आए वो बचकर निकल गए, दुश्मन देशों में बसेरा बना लिया। आज उन लोगों से ये देश पूछता है कि इतने बड़े गुनाहगार कैसे बचकर निकल गए।


शिवसेना प्रत्याशी पर चाकू से हमला

मुंबई। महाराष्ट्र के उस्मानाबाद में शिवसेना से सांसद ओमराजे निंबालकर पर चाकू से हमला किया गया है। वह शिवसेना के प्रत्याशी कैलाश पाटिल के लिए पडोली गांव में चुनाव प्रचार कर रहे थे।


प्रचार के दौरान ओमराजे निंबालकर से पहले एक युवक ने हाथ मिलाया और फिर दूसरे हाथ में छिपाए चाकू से हमला कर दिया। सांसद ओमराजे के हाथों और पेट पर हमला किया गया। हमला करने के बाद युवक फरार हो गया। आनन-फानन में उन्हें अस्पताल पहुंचाया गया। घटनास्थल पर पुलिस पहुंच गई है और आरोपी युवक की तलाश की जा रही है।


सेना से मुठभेड़ में तीन आतंकी ढेर

अनंतनाग। जिले के बिजबिहाडा क्षेत्र में बुधवार सुबह मुठभेड़ में सुरक्षाबलों ने तीन आतंकियों को मार गिराया। मारे गए आतंकियों की पहचान नहीं हो पाई है। क्षेत्र में अन्य आतंकियों के छिपे होने की संभावना के चलते तलाशी अभियान जारी है।


बिजबिहाड़ा में आतंकियों की मौजूदगी की पुख्ता सूचना के बाद सुरक्षाबलों ने पूरे क्षेत्र को घेरकर तलाशी अभियान शुरू किया। आम लोगों की जानमाल की सुरक्षा के लिए बिजबिहाडा के आसपास के क्षेत्रों को खाली कराने के बाद सघन तलाशी अभियान शुरू किया। इस दौरान छिपे आतंकियों ने सुरक्षाबलों को पास आते देखा गोलीबारी शुरू कर दी। इसके बाद शुरू हुई मुठभेड़ में सुरक्षाबलों ने तीन आतंकियों को मार गिराया है। सुरक्षाबलों ने मौके से गोली-बारूद भी बरामद किया है।


मुस्लिम पत्रकारों ने छोड़ा पक्ष,अफवाह

अयोध्या । अयोध्या मामले में सुनवाई के 39वें दिन बुधवार को विवादित जमीन से सुन्नी वक्फ बोर्ड के दावा छोड़ने की बात मीडिया में आने पर हलचल मच गई। इस पर अयोध्या मामले में मुस्लिम पक्षकार हाजी महबूब ने सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड की ओर से 2.77 एकड़ विवादित जमीन पर अपना दावा छोड़ने संबंधी किसी तरह के नए हलफनामा देने से इंकार किया है।


सुप्रीम कोर्ट में चल रहे अयोध्या मामले में मुस्लिम पक्षकार हाजी महबूब ने कहा कि सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड की ओर से 2.77 एकड़ विवादित जमीन पर अपना दावा छोड़ने संबंधी किसी तरह का नया हलफनामा नहीं दिया गया है। यह मात्र एक अफवाह है। उन्होंने कहा कि कोर्ट में सुनवाई का बुधवार को आखिरी दिन है। बोर्ड की ओर से कोई हलफनामा पेश नहीं किया गया है।


अफगानिस्तान को दो गनशिप हेलीकॉप्टर

नई दिल्ली। दो एमआई 24वी गनशिप हेलीकॉप्टर को भारतीय राजदूत विनय कुमार द्वारा अफगानिस्तान के रक्षामंत्री असदुल्लाह खालिद को काबुल में आयोजित एक समारोह में सौंपा गया।


अफगानिस्तान स्थित भारतीय दूतावास ने ट्वीट किया, “राजदूत विनय कुमार ने एमआई-24वी को सेवा में शामिल किए जाने पर एएएफ को बधाई दी और सफलता के लिए शुभकामना दी। रक्षामंत्री असदुल्लाह खालिद ने इस मदद के लिए भारत को धन्यवाद दिया।”


सूत्रों ने कहा कि ये हेलीकॉप्टर भारत की तरफ से 2015-16 में अफगानिस्तान को उपहार में दिए गए चार हेलीकॉप्टरों के बदले में हैं। काबुल स्थित समाचार चैनल टोलो न्यूज ने कहा है कि हेलीकॉप्टरों को अफगानिस्तान के एक सैन्य हवाईअड्डे पर सौंपा गया।


आतंकियों ने ट्रक ड्राइवर को मारी गोली

श्रीनगर। जम्मू कश्मीर के शोपियां इलाके के सिंधु शेरमल में आतंकवादियों ने राजस्थान के फलों से लदे ट्रक में अज्ञात बंदूकधारियों ने हमला कर ड्राइवर की गोली मारकर हत्या कर दी, और सेब से लादे ट्रक को आग लगा दी। ड्राइवर को तुरंत स्थानीय अस्पताल ले जाया गया, जहां उसे मृत घोषित कर दिया गया।


मृतक की पहचान राजस्थान के रहने वाले शरीफउद्दीन खान के रूप में हुई है। जिसके बाद दक्षिणी कश्मीर में दहशत का माहौल पैदा हो गया है। यह घटना सोमवार को रात के करीब 8 बजे हुई, जब फलों से लदे ट्रक में अज्ञात बंदूकधारियों ने हमला कर दिया। वही स्थानीय लोगों ने इस घटना की कड़ी निंदा की है। एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि इस ट्रक ड्राइवर की हत्या के मामले में 15 लोगों को पुलिस ने पूछताछ के लिए हिरासत में लिया है। वहीं पजलपुरा में सुबह छह बजे से सुरक्षाबलों और आंतकियों के बीच मुठभेड़ जारी है। सेना और सीआरपीएफ के जवानों का ये संयुक्‍त ऑपरेशन है। 2-3 आतंकियों के छिपे होने की खबर है। ये आंतकी मकान में छुपे हैं। तड़के 3 बजे के करीब सेना को इन आंतकियों के छिपे होने की खबर मिली है।


इस घटना ने दक्षिण कश्मीर और आसपास के क्षेत्रों के फल उत्पादकों में डर पैदा कर दिया है। लोगों का कहना है कि दक्षिण कश्मीर में ट्रक ड्राइवर की हत्या के बाद स्थिति पूरी तरह से तनावपूर्ण हो गई है। शोपियां के एक फल उत्पादक ज़ीशान अहमद (बदला हुआ नाम) के अनुसार, 'स्थिति चिंताजनक है, हमें पूरे भारत में अपनी फल को भेजने के लिए टारगेट किये जा रहे हैं।


समसामयिक एवं राशिफल

1-राशिफल


मेष -किसी अपने नजदीकी से कहासुनी हो सकती है। हृदय को ठेस पहुंच सकती है। स्वास्थ्य का पाया कमजोर रहेगा। काम में उत्साह की कमी रहेगी। जोखिम व जमानत के कार्य टालें। भागदौड़ रहेगी। मानसिक उलझनें रहेंगी। व्यापार-व्यवसाय मनोनुकूल चलेगा। फालतू बातों पर ध्यान न दें।


वृष -कम मेहनत से ही कार्यसिद्धि होगी। काफी समय से रुके कार्य पूर्ण होने से प्रसन्नता रहेगी। कार्य की प्रशंसा होगी। नौकरी में सहकर्मी साथ देंगे। घर में भाइयों का सहयोग प्राप्त होगा। व्यापार-व्यवसाय में गति आएगी। निवेश आदि मनोनुकूल लाभ देंगे। प्रमाद न करें।


मिथुन -नए मित्र बनेंगे। नए कार्य प्रारंभ करने की योजना बनेगी। अच्‍छी खबर मिलने से प्रसन्नता रहेगी। पारिवारिक सहयोग प्राप्त होगा। आय में वृद्धि होगी। शत्रु सक्रिय रहेंगे। किसी भी तरह के विवाद में भाग न लें। व्यापार-व्यवसाय में लाभ वृद्धि होगी। प्रसन्नता बनी रहेगी।


कर्क -भाग्योन्नति के प्रयास सफल रहेंगे। यात्रा मनोनुकूल लाभ देगी। निवेश में सोच-समझकर हाथ डालें। नौकरी में कार्यभार रहेगा। कारोबार अच्‍छा चलेगा। पार्टनरों का सहयोग प्राप्त होगा। नवीन वस्त्राभूषण पर व्यय होगा। परीक्षा व साक्षात्कार आदि में सफलता प्राप्त होगी। प्रमाद न करें।


सिंह -व्ययवृद्धि होगी। बजट बिगड़ेगा। दूसरों से अपेक्षा पूरी नहीं होगी। कार्य की गति धीमी रहेगी। नौकरी में कार्यभार रहेगा। थकान व कमजोरी रह सकती है। धैर्यशीलता में कमी रहेगी। किसी व्यक्ति की अच्छी बात भी बुरी लग सकती है। सोच-समझकर महत्वपूर्ण निर्णय लें।


कन्या -रुका पैसा मिल सकता है। यात्रा में जल्दबाजी न करें। लाभ के अवसर हाथ आएंगे। सभी कार्य पूर्ण व सफल रहेंगे। घर-बाहर प्रसन्नता का वातावरण रहेगा। उत्साह बना रहेगा। समय की अनुकूलता का लाभ लें। प्रमाद न कर भरपूर प्रयास करें। वाहनादि का प्रयोग संभलकर करें।


तुला-आर्थिक नीति का परिवर्तन सुखद रहेगा। कई तरह के लाभ प्राप्त होंगे। किसी बड़े कार्य को करने की योजना बनेगी। सामाजिक प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी। नए काम मिल सकते हैं। लाभ के अवसर हाथ आएंगे। उत्साह व प्रसन्नता से काम कर पाएंगे। दूसरों की बातों में न आएं।


वृश्चिक -शारीरिक कष्ट की आशंका प्रबल है अत: लापरवाही न करें। अध्यात्म तथा तंत्र-मंत्र में रुचि रहेगी। किसी विद्वान व्यक्ति का मार्गदर्शन प्राप्त होगा। राजकीय सहयोग प्राप्त होगा। लंबित कार्य पूर्ण होंगे। प्रसन्नता रहेगी। चिंता तथा तनाव में कमी रहेगी।


धनु-वाहन, मशीनरी व अग्नि आदि के प्रयोग में लापरवाही न करें। शारीरिक कष्ट संभव है। दूसरों के उकसाने में न आएं। महत्वपूर्ण निर्णय लेने में जल्दबाजी न करें। स्वास्थ्य संबंधी परेशानी हो सकती है। समय शीघ्र ही बदलेगा। व्यापार-व्यवसाय मनोनुकूल रहेंगे।


मकर -पारिवारिक मांगलिक कार्य का आयोजन हो सकता है। कुंआरों को वैवाहिक प्रस्ता‍व मिल सकता है। नौकरी में प्रमोशन इत्यादि मिल सकता है। घर-बाहर उत्साह व प्रसन्नता का वातावरण रहेगा। समय की अनुकूलता का लाभ लें। प्रमाद न करें। फालतू बातों पर ध्यान न दें।


कुंभ -स्थायी संपत्ति की खरीद-फरोख्त से बड़ा लाभ हो सकता है। प्रॉपर्टी ब्रोकर्स समय का लाभ ले सकते हैं। भाग्योन्नति के प्रयास सफल रहेंगे। रोजगार में वृद्धि होगी। धनार्जन सुगम होगा। उत्साह व प्रसन्नता से काम कर पाएंगे। व्यस्तता रहेगी। थकान संभव है।


मीन -पठन-पाठन व लेखन आदि कामों में मन लगेगा। सफलता प्राप्त होगी। किसी प्रबुद्ध व्यक्ति का मार्गदर्शन प्राप्त होगा। मस्तिष्क में नए-नए विचार आएंगे। घर-बाहर पूछ-परख रहेगी। किसी आनंदोत्सव में भाग लेने का अवसर प्राप्त हो सकता है। प्रसन्नता में वृद्धि होगी।


2- सुप्रीम कोर्ट का फैसले का सम्मान होना चाहिए


जल्द ही अयोध्या में भगवान राम के मंदिर का कोर्ट फैसला आने वाला है। हिन्दू और मुस्लिम दोनों ही बेसब्री से फैसले का इंतजार कर रहे हैं। फैसला जो भी आये और जिस भी वर्ग के पक्ष में आए। प्रत्येक पक्ष को सुप्रीम कोर्ट के फैसले का पूरा सम्मान करना चाहिए। सुप्रीम कोर्ट भारतीय लोकतंत्र की सबसे बड़ी न्याय संस्था हैं और वह प्रत्येक वर्ग, जाति, समुदाय और धर्म से ऊपर है।


न्यायप्रणाली में आस्था और विश्वास
उसके फैसले व्यक्तिगत ना होकर न्यायपूर्ण होते हैं और देश में न्याय व्यवस्था बनाए रखने के लिए आवश्यक है कि न्यायप्रणाली में आस्था और विश्वास हो। 2020 से 2022 में भगवान राम के मंदिर का निर्माण कार्य पूर्ण हो जाएगा, ऐसी भविष्णवाणी हम पूर्व ही कर चुके है।


आज हम यह विश्लेषण करने जा रहे है कि भगवान राम को सिंहासन मिलने वाला था, परन्तु रातोंरात स्थिति बदल गई और उन्हें चौदह वर्ष के लिए वनवास के लिए जाना पड़ा। ऐसे कौन से ग्रह योग थे, जिनके फलस्वरुप यह स्थिति बनी। आईये जानें-


भगवान राम की कुंडली विश्लेषण
भगवान राम की कुंड्ली कर्क लग्न और कर्क राशि की है। लग्न में गुरु-चंद्र युति, पराक्रम भाव में राहु, चतुर्थ में शनि, सप्तम में मंगल, शुक्र-केतु नवम भाव, सूर्य दशम भाव, बुध एकादश भावस्थ है।


ज्योतिष शास्त्रों के अनुसार यदि लग्न और सप्तम दोनों में उच्चस्थ ग्रह स्थित हों तो व्यक्ति को विवाह के बाद अवनति का सामना करना पड़ता है। पद-प्रतिष्ठा के लिए चतुर्थ और द्वितीय भाव का विचार किया जाता है। यहां चतुर्थेश शुक्र नवम भाव में राहु/केतु अक्ष में होने के कारण पीडित है और पूर्ण फल देने की स्थिति में नहीं है।


सप्तम से चतुर्थ भाव अर्थात दशम भाव में सूर्य उच्च पद, सम्मान और अधिकारिक शक्तियां तो देता है परन्तु यहां यह वैवाहिक सुख का नाश करता है। इसी प्रकार द्वादशेश बुध का स्वयं से द्वादश भावस्थ होना शयन सुख में कमी करता है। कुछ ज्योतिषी मतों के अनुसार जब लग्न और सप्तम दोनों भाव उच्च के ग्रहों से युक्त होते हैं तो ग्रह त्याग कर वनवास जाना पड़ता है।


वैदिक ज्योतिष शास्त्रों के अनुसार यदि सौम्य ग्रह अर्थात वॄष, मिथुन, कर्क, तुला, धनु और मीन लग्न हो, उसमें सौ म्य ग्रह अर्थात शुभ ग्रह स्थित हो और उन्हें कम से कम दो पाप ग्रह पूर्ण दृष्टि दे रहें हो तो व्यक्ति कितना भी बड़ा राजा हो, कुंडली कितने भी राजयोगों से युक्त हो, ऐसे मॆं राजभंग होता है। ऐसा व्यक्ति राजा के घर जन्म लेकर भी राजसिक जीवन नहीं जी पाता है।


उपरोक्त कुंडली में गुरु-चंद्र दोनों लग्नस्थ है और इन्हें मंगल सप्तम दृष्टि से व शनि दशम दृष्टि से देख रहे हैं। इसके अतिरिक्त राहु भी शुक्र को देख रहें है। शनि व सूर्य सप्तसप्तक योग में स्थित है। शनि-सूर्य की युति या दोनों का सप्तसप्तक योग में होना पिता का पुत्र से वियोग देता है।


संतान को जातक से अधिक पराक्रमी
अनुभव मंह पाया गया है कि कर्क लग्न की कुंडलियों में पंचमेश का सप्तम भाव में स्थित होना, व्यक्ति की संतान की संतान को जातक से अधिक पराक्रमी बनाता है। यह योग अनेकोनेक कुंडलियों पर लगा कर देखा, पूर्ण फल देता है। आप भी लगाकर देंखे और अपने अनुभव बतायें।


ज्योतिष आचार्या रेखाकल्पदेव पिछले 15 वर्षों से सटीक ज्योतिषीय फलादेश और घटना काल निर्धारण करने में महारत रखती है। कई प्रसिद्ध वेबसाईटस के लिए रेखा ज्योतिष परामर्श कार्य कर चुकी हैं।


आचार्या रेखा एक बेहतरीन लेखिका भी हैं। इनके लिखे लेख कई बड़ी वेबसाईट, ई पत्रिकाओं और विश्व की सबसे चर्चित ज्योतिषीय पत्रिकाओं में शोधारित लेख एवं भविष्यकथन के कॉलम नियमित रुप से प्रकाशित होते रहते हैं।जीवन की स्थिति, आय, करियर, नौकरी, प्रेम जीवन, वैवाहिक जीवन, व्यापार, विदेशी यात्रा, ऋणऔर शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य, धन, बच्चे, शिक्षा,विवाह, कानूनी विवाद, धार्मिक मान्यताओं और सर्जरी सहित जीवन के विभिन्न पहलुओं को फलादेश के माध्यम से हल करने में विशेषज्ञता रखती हैं।


 


प्रकृति और खानपान (विविध)

औषधीय गुणों से भरपूर तुलसी


1-तुलसी - (ऑसीमम सैक्टम) एक द्विबीजपत्री तथा शाकीय, औषधीय पौधा है। यह झाड़ी के रूप में उगता है और १ से ३ फुट ऊँचा होता है। इसकी पत्तियाँ बैंगनी आभा वाली हल्के रोएँ से ढकी होती हैं। पत्तियाँ १ से २ इंच लम्बी सुगंधित और अंडाकार या आयताकार होती हैं। पुष्प मंजरी अति कोमल एवं ८ इंच लम्बी और बहुरंगी छटाओं वाली होती है, जिस पर बैंगनी और गुलाबी आभा वाले बहुत छोटे हृदयाकार पुष्प चक्रों में लगते हैं। बीज चपटे पीतवर्ण के छोटे काले चिह्नों से युक्त अंडाकार होते हैं। नए पौधे मुख्य रूप से वर्षा ऋतु में उगते है और शीतकाल में फूलते हैं। पौधा सामान्य रूप से दो-तीन वर्षों तक हरा बना रहता है। इसके बाद इसकी वृद्धावस्था आ जाती है। पत्ते कम और छोटे हो जाते हैं और शाखाएँ सूखी दिखाई देती हैं। इस समय उसे हटाकर नया पौधा लगाने की आवश्यकता प्रतीत होती है।


तुलसी की सामान्यतः निम्न प्रजातियाँ पाई जाती हैं:


१- ऑसीमम अमेरिकन (काली तुलसी) गम्भीरा या मामरी।
२- ऑसीमम वेसिलिकम (मरुआ तुलसी) मुन्जरिकी या मुरसा।
३- ऑसीमम वेसिलिकम मिनिमम।
४- आसीमम ग्रेटिसिकम (राम तुलसी / वन तुलसी / अरण्यतुलसी)।
५- ऑसीमम किलिमण्डचेरिकम (कर्पूर तुलसी)।
६- ऑसीमम सैक्टम
७- ऑसीमम विरिडी।
इनमें ऑसीमम सैक्टम को प्रधान या पवित्र तुलसी माना गया जाता है, इसकी भी दो प्रधान प्रजातियाँ हैं- श्री तुलसी जिसकी पत्तियाँ हरी होती हैं तथा कृष्णा तुलसी जिसकी पत्तियाँ निलाभ-कुछ बैंगनी रंग लिए होती हैं। श्री तुलसी के पत्र तथा शाखाएँ श्वेताभ होते हैं जबकि कृष्ण तुलसी के पत्रादि कृष्ण रंग के होते हैं। गुण, धर्म की दृष्टि से काली तुलसी को ही श्रेष्ठ माना गया है, परन्तु अधिकांश विद्वानों का मत है कि दोनों ही गुणों में समान हैं। तुलसी का पौधा हिंदू धर्म में पवित्र माना जाता है और लोग इसे अपने घर के आँगन या दरवाजे पर या बाग में लगाते हैं। भारतीय संस्कृति के चिर पुरातन ग्रंथ वेदों में भी तुलसी के गुणों एवं उसकी उपयोगिता का वर्णन मिलता है। इसके अतिरिक्त ऐलोपैथी, होमियोपैथी और यूनानी दवाओं में भी तुलसी का किसी न किसी रूप में प्रयोग किया जाता है।


लाल हल्के पीले रंग का खुबानी


2-ख़ुबानी के पेड़ का कद छोटा होता है - लगभग ८-१२ मीटर तक। उसके तने की मोटाई क़रीब ४० सेंटीमीटर होती है। ऊपर से पेड़ की टहनियां और पत्ते घने फैले हुए होते है। पत्ते का आकार ५-९ सेमी लम्बा, ४-८ सेमी चौड़ा और अण्डाकार होता है। फूल पाँच पंखुड़ियों वाले, सफ़ेद या हलके गुलाबी रंग के होते हैं और हाथ की ऊँगली से थोड़े छोटे होते हैं। यह फूल या तो अकेले या दो के जोड़ों में खिलते हैं। ख़ुबानी का फल एक छोटे आड़ू के बराबर होता है। इसका रंग आम तौर पर पीले से लेकर नारंगी होता है लेकिन जिस तरफ सूरज पड़ता हो उस तरफ ज़रा लाल रंग भी पकड़ लेता है। वैसे तो ख़ुबानी के बहरी छिलका काफी मुलायम होता है, लेकिन उस पर कभी-कभी बहुत महीन बाल भी हो सकते हैं। ख़ुबानी का बीज फल के बीच में एक ख़ाकी या काली रंग की सख़्त गुठली में बंद होता है। यह गुठली छूने में ख़ुरदुरी होती है।


पैदावार-विश्व में सबसे ज़्यादा ख़ुबानी तुर्की में उगाई जाती है जहाँ २००५ में ३९०,००० टन ख़ुबानी पैदा की गई। मध्य-पूर्व तुर्की में स्थित मलत्या क्षेत्र ख़ुबानियों के लिए मशहूर है और तुर्की की लगभग आधी पैदावार यहीं से आती है। तुर्की के बाद ईरान का स्थान है, जहाँ २००५ में २८५,००० टन ख़ुबानी उगाई गई। ख़ुबानी एक ठन्डे प्रदेश का पौधा है और अधिक गर्मी में या तो मर जाता है या फल पैदा नहीं करता। भारत में ख़ुबानियाँ उत्तर के पहाड़ी इलाकों में पैदा की जाती है, जैसे के कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, वग़ैराह।


ख़ुबानी के बीज-ख़ुबानी की गुठली के अन्दर का बीज एक छोटे बादाम की तरह होता है और ख़ुबानी की बहुत सारी क़िस्मों में इसका स्वाद एक मीठे बादाम सा होता है। इसे खाया जा सकता है, लेकिन इसमें हलकी मात्रा में एक हैड्रोसायनिक ऐसिड नाम का ज़हरीला पदार्थ होता है। बच्चों को ख़ुबानी का बीज नहीं खिलाना चाहिए। बड़ों के लिए यह ठीक है लेकिन उन्हें भी एक बार में ५-१० बीजों से अधिक नहीं खाने चाहिए।


किस्में-खुबानी कई रंगों में आती है, जैसे सफेद, काले, गुलाबी और भूरे (ग्रे) रंग। रंग से खुबानी के स्वाद पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता, लेकिन इसमें जो कैरोटीन होता है, उसमें जरूर अंतर आ जाता है।


 


3-दक्षिण भारतीय खाना


दक्षिण भारतीय खाना भारत के द्रविड़ राज्यों के खाने को कहा जाता है। इसमें मुख्यतः तमिल नाडु, कर्नाटक, आंध्र प्रदेश और केरल राज्य गिने जाते है। प्रसिद्ध पकवाने है- पेरुगु पुरी, इडली, डोसा, सांभर, पोंगल आदि। यहाँ का प्रमुख भोजन चावल है। नारियल, इमली, हरी मिर्च का प्रयोग होता है।


तमिल खाना
तमिल खाना मैं चावल, फलियां और मसूर की दाल का प्रयोग होता है। अपनी विशिष्ट सुगंध और स्वाद करी पत्ते, सरसों के बीज, धनिया, अदरक, लहसुन, मिर्च, काली मिर्च, दालचीनी, लौंग, हरी इलायची, जीरा, जायफल, नारियल और गुलाब जल हर एक पकवान को सुगंधित और स्वादिष्ट बनाते है। चेट्टीनाद व्यंजन पूरे दुनीया मैं प्रसिद्ध है। प्रसिद्ध खान है- मीन कोज़हमबु, पोलि, पोगल, इड्डीअपम, इडली, रस्म, पारुपु डोसा।


मलयाली खाना
मलयाली खाना बहुत विविध है। शाकाहारी व मांसाहरी पकवाने यहाँ मिलती है। प्रसिद्ध पकवान है-पुटू, आपम, इडीआपम, अवीयल, अलग- अलग प्रकार के मछली करी, मालाबार बिरयानी, पेडी, चिकन स्टू, पायसम। मलयाली खाने मैं केरल (चोर) चावल पसंद करते हैं। यहाँ का सबसे प्रसिद्ध पकवान सादया है।


कन्नड़ खाना
केरला के पकवान के तरह हि कन्नड़ पकवान मैं शाकाहारी व मांसाहरी पकवाने मिलती है। दक्षिण राज्यों का प्रभाव कन्नड़ खाने पर बहुत पड़ा है। प्रसिद्ध पकवान है - कोसमबारी, बिसी बेले बाथ, अक्कि रोटी, रागी मुद्दे, कायी चटनी, नुपुत्तु, टमाटर बाथ, मैसूर पाक, पानदि करी, अलग- अलग प्रकार के अचार। उडुपी व्यंजन पूरे राज्य व दुनीया मैं प्रसिद्ध है।


आंध्र प्रदेश का खाना
आंध्र खाना अपने नोंकदार, मसालेदार खाने के लिए जाना जाता है। दल, टमाटर और इमली इनके प्रमुक सामग्रीया है। प्रसिद्ध पकवान है- पेरुगु पुरी, पाचहि पुलुसु, बदाम हलवा, बिरयानी। इस राज्य के अन्दर बहुत सारे व्यंजन मिलेगेे।


राम चिरैया चमकीले रंगों का पक्षी


4-किंगफिशर कोरासीफोर्म्स वर्ग के छोटे से मध्यम आकार के चमकीले रंग के पंक्षियों का एक समूह है। इनका एक सर्वव्यापी वितरण है जिनमें से ज्यादातर प्रजातियाँ ओल्ड वर्ल्ड और ऑस्ट्रेलिया में पायी जाती हैं। इस समूह को या तो एक एकल परिवार एल्सिडिनिडी के रूप में या फिर उपवर्ग एल्सिडाइन्स में माना जाता है जिनमें तीन परिवार शामिल हैं, एल्सिडिनिडी (नदीय किंगफिशर), हैल्सियोनिडी (वृक्षीय किंगफिशर) और सेरीलिडी जलीय किंगफिशर). किंगफिशर की लगभग 90 प्रजातियां हैं। सभी के बड़े सिर, लंबे, तेज, नुकीले चोंच, छोटे पैर और ठूंठदार पूंछ हैं। अधिकांश प्रजातियों के पास चमकीले पंख हैं जिनमें अलग-अलग लिंगों के बीच थोड़ा अंतर है। अधिकांश प्रजातियां वितरण के लिहाज से उष्णकटिबंधीय हैं और एक मामूली बड़ी संख्या में केवल जंगलों में पायी जाती हैं। ये एक व्यापक रेंज के शिकार और मछली खाते हैं, जिन्हें आम तौर पर एक ऊंचे स्थान से झपट्टा मारकर पकड़ा जाता है। अपने वर्ग के अन्य सदस्यों की तरह ये खाली जगहों में घोंसला बनाते हैं, जो आम तौर पर जमीन पर प्राकृतिक या कृत्रिम तरीके से बने किनारों में खोदे गए सुरंगों में होते हैं। कुछ प्रजातियों, मुख्यतः द्वीपीय स्वरूपों के विलुप्त होने का खतरा बताया जाता है।


तीन परिवारों का वर्गीकरण जटिल है और कहीं अधिक विवादास्पद है। हालांकि आम तौर पर इन्हें कोरासीफोर्म्स वर्ग में रखा जाता है, लेकिन इस स्तर से नीचे भ्रम पैदा होने लगता है।


पारंपरिक रूप से किंगफिशर को तीन उप-परिवारों के साथ एक परिवार, एल्सिडिनिडी माना जाता था, लेकिन पक्षी वर्गीकरण में 1990 के दशक की क्रांति के बाद, पहले तीन उप-परिवारों को अब परिवार के स्तर से कहीं ऊंचा कर दिया गया है। यह परिवर्तन गुणसूत्र और डीएनए संकरण के अध्ययन द्वारा समर्थित था, लेकिन इस आधार पर इसे चुनौती दी गयी कि सभी तीन समूह अन्य कोरासीफोर्म्स के संदर्भ में मोनोफाइलेटिक हैं। यही उन्हें उपवर्ग एल्सिडाइन्स के रूप में वर्गीकृत करने का कारण है।


वृक्षीय किंगफिशर को पहले डेसिलोनिडी का पारिवारिक नाम दिया गया था लेकिन फिर हेल्सियोनिडी को प्राथमिकता दी गयी।


किंगफिशर की विविधता का केंद्र है ऑस्ट्रेलेसियन क्षेत्र, लेकिन ऐसा माना जाता है कि इस परिवार की उत्पत्ति यहाँ नहीं हुई, इसके बजाय ये उत्तरी गोलार्द्ध में विकसित हुए और कई बार ऑस्ट्रेलेसियन क्षेत्र पर आक्रमण किया। जीवाश्म किंगफिशर का उल्लेख 30-40 मिलियन वर्षों पहले, जर्मनी में व्योमिंग और मध्य इयोसीन चट्टानों में निम्न इयोसीन चट्टानों से किया गया मिलता है। और अधिक हाल ही के जीवाश्म किंगफिशर का उल्लेख ऑस्ट्रेलिया के मिओसिन चट्टानों में (5-25 मिलियन वर्षों पहले) किया गया मिलता है। कई जीवाश्म पक्षियों का संबंध ग़लती से किंगफिशर से जोड़ दिया गया है, जिनमें केंट में लोअर इयोसीन चट्टानों के हैल्सियोमिस शामिल हैं जिन्हें एक गल भी समझा जाता है, लेकिन अब इन्हें एक विलुप्त परिवार का एक सदस्य माना जाता है। उनमें किंगफिशर की 85,000 प्रजातियाँ हैं।


तीनों परिवारों में एल्सिडिनिडी अन्य दो परिवारों पर आधारित हैं। अमेरिका में पायी जाने वाली कुछ प्रजातियाँ, जो सभी सेरीलिडी परिवार से हैं, यह बताती हैं कि पश्चिमी गोलार्द्ध में इनकी छिटपुट मौजूदगी केवल दो मूल नयी बस्तियाँ बनाने वाली प्रजातियों के परिणाम स्वरुप है। यह परिवार प्राचीन युग में सबसे अधिक हाल ही में मिओसिन या प्लिओसीन में विविधतापूर्ण तरीके से अपेक्षाकृत हैल्सियोनिडी से विभाजित हुआ है।


महर्षि वशिष्ठ का राष्ट्रवाद उपदेश

गतांक से...
मेरे प्यारे मुझे स्मरण आता रहता है कि महाराजा सगर के भ्रमण करते आश्व को किसी ने अपने यहां स्थिर नहीं किया। महर्षि कपिल मुनि महाराज अपने विद्यालय में विद्यमान थे। उनके यहां जय और विजय दो राजकुमार अध्ययन करते रहते थे। वह अस्त्र-शस्त्र विद्या में बड़े निपुण ,पूर्णता को प्राप्त हुए थे। उन्होंने अश्व को अपने विद्यालय में स्थिर कर लिया। अब अश्व कहीं दृष्टिपात नहीं हुआ तो महाराज सगर ने अपने पुत्र सुख मंजस से कहा कि हमारी चौमुखी पुत्रवत सेना के साथ अश्व को लेने जाओ। वह सर्वत्र पृथ्वी पर भ्रमण करके कहीं अश्व को प्राप्त नहीं कर सके। वे राजा सागर के द्वार पर आकर बोले प्रभु हमें कहीं ऐसा भान नहीं हुआ कि हम उस अश्व को ले आए। उन्होंने कहा, कहां गया। पर वह हमें कहीं प्रतीत नहीं है। उन्होंने कहा जानकारी लाओ सेनापति सहित उन्हें भ्रमण करने लगे और पृथ्वी के ऊपर तथा ग्रह में दृष्टिपात करने लगे। इसी प्रकार भ्रमण करते जब कपिल मुनि के द्वार पर पहुंचे तो महात्मा कपिल ने उन्हें आसन दिया। उन्होंने दृष्टिपात किया कि अश्व वहां विद्यमान है। उन्होंने कहा है कपिल 'अमृतम भूतम ब्रह्मा:' ऋषि विचार रहा है कि तुम्हारा हमारा संग्राम होगा। क्योंकि तुमने अश्वमेघ यज्ञ के अश्व को अपने यहां स्थिर किया है। उन्होंने कहा भगवन बहुत प्रिय कपिल मुनि महाराज जहां दर्शनों के मर्म को जानते थे, जहां वे तपस्वी थे, वहां अस्त्र-शस्त्रों की भी विद्या भली प्रकार जानते थे। जय और विजय जो उनके शिष्य थे और विद्या के ऊपर यंत्रों का निर्माण करते रहते थे। उन्हें भी यह प्रतीत हुआ। मेरे प्यारे, मुझे स्मरण आता रहता है कि महात्मा कपिल मुनि महाराज ने 'अमृता: ब्रह्म वर्तम राजसुताहम: कहा हे राजन, तुम इस प्रकार व्रत मे क्यों हो, उन्होंने कहा नहीं हम संग्राम करेंगे। बहुत प्रिय कहकर जय और विजय को आज्ञा दी। जय- विजय धनुष याग करते थे। धनुर्विद्या के महात्मा कपिल मुनि बड़े परायण थे। धनुर्विद्या के आधार पर उन्होंने संग्राम करना आरंभ किया। जय और विजय ने जहां एक-दो यंत्रों का प्रहार किया तो उनकी बहूरंगनी सेना नष्ट हो गई। सर्वत्र सेना के नष्ट हो जाने पर राजा को यह प्रतीत हुआ कि यह जय और विजय ने की है और महात्मा कपिल के यहां जिंनका वर्तम ब्रह्म: अध्ययन होता रहता है। उसमें सब विद्या विद्यमान है। मुझे ऐसा स्मरण आ रहा है कि राजा ने जब यह स्वीकार कर लिया। राज नवरत्न घोषणा वर्तम् ब्रह्म: क्रतम, महात्मा कपिल मुनि के आश्रम में युवा सब विद्वान है। सगर और उनके पुत्र सुखमंजस दोनों ने वहां से गमन किया और दोनों भ्रमण करते हुए वे महात्मा कपिल के आश्रम में पहुंचे। महात्मा कपिल ने राजा को दृष्टिपात करते हुए उनका नमन किया। अनुवादन किया, अनुकृतियों में रत रहने लगे तो उन्होंने अपनी गाथा का वर्णन किया। महात्मा सगर ने कहा रहस्यतम हे ऋषि, आप महात्मा है मैं भी एक महात्मा के तुल्य हूं।भगवन आप मेरे आश्रम में गमन कीजिए। उन्होंने कहा मैं इस समय नहीं जा पाऊंगा। मेरे प्यारे उन्होंने कहा यह मेरी सेना किसने नष्ट किया। उन्होंने कहा यह जय और विजय ने की है। तुम्हारा अश्वमेघ यज्ञ का अश्व भी यही विधमान है। जय और विजय से संग्राम करने को तत्पर हुए तो उस समय महात्मा कपिल ने कहा कि जय-विजय तुम यंत्र में बड़े परायण हो। यंत्रों की नाना लोको की आभा में रत रहने के लिए तत्पर रहते हो।


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

यूनिवर्सल एक्सप्रेस


हिंदी दैनिक


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण


October 17, 2019 RNI.No.UPHIN/2014/57254


1. अंक-74 (साल-01)
2. बृहस्पतिवार,17 अक्टूबर 2019
3. शक-1941,अश्‍विन,कृष्णपक्ष,तिथि- चतुर्थी,विक्रमी संवत 2076


4. सूर्योदय प्रातः 06:18,सूर्यास्त 06:00
5. न्‍यूनतम तापमान -20 डी.सै.,अधिकतम-31+ डी.सै., हवा की गति धीमी रहेगी।
6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा।
7. स्वामी, प्रकाशक, मुद्रक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित।


8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102


9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.,201102


https://universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
cont.935030275
 (सर्वाधिकार सुरक्षित)


अभियान, सैकड़ों अरब डॉलर की परियोजनाएं: मंजूर

वाशिंगटन डीसी। दुनिया के सबसे संपन्न सात देशों (जी 7) के शिखर सम्मेलन में शनिवार को चीन मुख्य मुद्दा रहा। चीन की विस्तारवादी नीतियों के खिला...