बुधवार, 15 अप्रैल 2020

रूसः 28 लोगों की मौत, 3 हजार नये

मास्को। रूस में कोरोना वायरस (COVID-19) के एक दिन में रिकॉर्ड 3,000 से ज्यादा मामलों की पुष्टि हुई है। इसके साथ ही यहां मरीजों की संख्या 25,000 के करीब पहुंच गई है। देश के कोरोना वायरस रिस्पॉन्स सेंटर के अनुसार पिछले 24 घंटे में 3,388 मामलों की पुष्टि हुई है। इसके साथ ही यहां मरीजों की संख्या 24,490 हो गई है। इनमें से 198 लोगों की मौत हो गई। देश में पिछले 24 घंटे में 28 लोगों की मौत हो गई है। 


बता दें कि रूस में संक्रमण काफी तेजी से फैल रहा है। इससे पहले मंगलवार को यहां 2,774 नए मामलों की पुष्टि हुई थी और 22 लोग की मौत हो गई थी। इससे यहां मरीजों की संख्या 21,102 हो गई थी। इस दौरान मरने वालों की संख्या 170 थी। देश में मामलों की संख्या तेजी से बढ़ने के बाद रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने कहा है कि देश में कोरोना वायरस महामारी से निपटने में मदद करने के लिए सेना को तैनात किया जा सकता है। अगले कुछ सप्ताह कई मामलों में निर्णायकः पुतिन ने सोमवार को शीर्ष अधिकारियों के साथ एक वीडियो मीटिंग में कहा कि लगभग रोज हालात बदल रहे हैं। दुर्भाग्य से हालात ठीक नहीं हो रहे हैं। बीमार लोगों की संख्या बढ़ रही है। अगले कुछ सप्ताह कई मामलों में निर्णायक होंगे। उन्होंने यूरोपीय देशों की ओर इशारा करते हुए कहा कि इटली ने संकट से निपटने के लिए सेना का उपयोग किया है। हमें इस अनुभव का उपयोग करने की आवश्यकता है।


कोरोनाः चीन ने रोका नदी का पानी

बीजिंग/ बैंकाक। कोरोना महासंकट के बीच इस महामारी का गढ़ रहे चीन का एक और अमानवीय चेहरा सामने आया है। चीन ने दक्षिण पूर्व एशियाई देशों में बहने वाली मेकांग नदी में पानी का बहाव बहुत कम कर दिया है। इससे चार देशों थाइलैंड, लाओस, कंबोडिया और वियतनाम में भीषण सूखा पड़ गया है। इन देशों में हालात इतने खराब हो गए हैं कि किसानों और मछुआरों को प्रदर्शन करना पड़ा है। चीन के इस कदम के बाद ब्रह्मपुत्र नदी को लेकर भी संदेह के बादल उमड़ने लगे हैं।


न्‍यूयॉर्क टाइम्‍स की रिपोर्ट के मुताबिक इस साल फरवरी के अंतिम दिनों में चीन जब कोरोना से जूझ रहा था, उस समय उसके विदेश मंत्री को अचानक लाओस जाना पड़ा था। दरअसल, दक्षिण पूर्वी एशियाई देशों की जीवनधारा कही जाने वाली मेकांग नदी में पानी कम होने के बाद लाओस के किसानों और मछुआरों ने जोरदार प्रदर्शन किया था। इसके बाद चीन के विदेश मंत्री वांग यी को लाओस जाना पड़ा। चीन के इंज‍िनियरों ने कम किया बहावः चीनी विदेश मंत्री ने कहा था कि वह किसानों और मछुआरों के दर्द को समझते हैं। उन्‍होंने दावा किया कि चीन भी इस साल सूखे का सामना कर रहा है और इससे मेकांग नदी में पानी कम हो रहा है। चीन के दावे के उलट अमेरिकी जलवायु विज्ञानियों के शोध से खुलासा हुआ है कि ऐसा पहली बार है जब चीन सूखे का सामना नहीं कर रहा है। उन्‍होंने कहा कि तिब्‍बत के पठार से मेकांग नदी निकलती है और चीनी इंज‍िन‍ियरों ने सीधे तौर पर नदी के पानी के बहाव को बहुत कम कर दिया है। इस रिपोर्ट को लिखने वाले एलन बसिष्‍ट ने कहा, 'सैटलाइट से मिले आंकड़े झूठ नहीं बोलते हैं और तिब्‍बत के पठार पर भी विशाल जलराशि मौजूद है। जल संकट की हालत यह है कि कंबोडिया और थाइलैंड जैसे देश भी पानी की बहुत कमी महसूस कर रहे हैं।' उन्‍होंने कहा, 'चीन ने बहुत बड़े पैमाने पर अपने पास ही रोक लिया है।' दरअसल, पूरी दुनिया में मेकांग नदी सबसे उपजाऊ नदियों में शामिल है।


लॉक डाउन उल्लंघन पर सख्त कार्रवाई

लखनऊ। लॉकडाउन के दूसरे चरण के लिए बुधवार को केंद्रीय गृह मंत्रालय ने गाइडलाइन जारी कर दी है। जिसके बाद सूबे की योगी सरकार ने इसे हॉटस्पॉट समेत सभी जगहों पर सख्ती से लागू करने का निर्देश दिया है। जिलाधिकारियों व पुलिस कप्तानों के साथ हुई वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में मुख्यमंत्री ने लॉकडाउन की गाइडलाइन का सख्ती से पालन करवाने के निर्देश दिए। साथ ही कहा कि टीम वर्क की तरह काम करते हुए हॉटस्पॉट इलाकों पर कड़ी नजर राखी जाएं।


दरअसल, प्रधानमंत्री द्वारा लॉकडाउन बढ़ाने के ऐलान के बाद से ही यूपी में संक्रमित मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ी है। राजधानी लखनऊ में बुधवार को एक ही दिन में 31 संक्रमित मामले सामने आने से हड़कंप मचा हुआ है। यह सभी मामले सदर इलाके से हैं। अभी तक इस इलाके से 50 लोग संक्रमित पाए जा चुके हैं। जिसके बाद से जिला प्रशासन को लॉकडाउन का उल्लंघन करने वालों से सख्ती से निपटने का निर्देश दिया गया है।


बता दें उत्तर प्रदेश में संक्रमित मरीजों की संख्या 700 के पार पहुंच गई है। अब यूपी में 705 लोग कोरोनावायरस से संक्रमित हैं। अभी तक यूपी में 49 लोग रिकवर हो चुके हैं। सूबे में आगरा के चार, बस्ती, वाराणसी, मुरादाबाद, कानपुर, मेरठ और बुलंदशहर में एक-एक मरीज की मौत हो चुकी है। कोरोना वायरस के चलते केंद्र की ओर 3 मई तक के लिए बढ़ाए गए लॉकडाउन पर सरकार द्वारा बुधवार को नई गाइडलाइन्स जारी की गई। इस दिशा-निर्देश के मुताबिक, खाने-पीने और दवा बनाने वाली तमाम इंडस्ट्रीज़ खुली रहेंगी। इसके साथ ही ग्रामीण भारत में सारे कल-कारखाने खोलने का निर्देश दिया गया है। नई गाईडलाइन्स के अनुसार मनरेगा के कार्यों को भी अनुमति दी गई है, जिसके तहत कहा गया है कि सिंचाई और जल संरक्षण को प्राथमिकता दें।


सिख धर्म के मुरीद हुए अमेरिकी गवर्नर

न्यू जर्सी। न्यू जर्सी के गवर्नर ने वैशाखी के अवसर पर सिख समुदाय को अपने संदेश में कहा कि सिख धर्म में सेवा, समानता एवं गरिमा के मूल्य समाहित हैं और जब दुनिया कोविड-19 महामारी से जूझ रही है तो ऐसे में ये मूल्य बहुत महत्व रखते हैं। वैशाखी का पर्व 13 अप्रैल को मनाया जाता है। इसी दिन खालसा की स्थापना हुई थी। फिल मर्फी ने सोमवार को ट्वीट किया, ‘सिख समुदाय को वैशाखी की शुभकामनाएं। सिख समुदाय में सेवा, समानता और गरिमा के मूल्य समाहित हैं जो मौजूदा समय में मुख्य रूप से महत्वपूर्ण हैं।’


उन्होंने कहा कि देश में न्यू जर्र्सी सिखों की सर्वाधिक संख्या वाले राज्यों में से एक है, इसलिए इस अवकाश को मान्यता देने के लिए इस राज्य से बेहतर स्थान नहीं हो सकता। न्यू जर्सी में करीब एक लाख सिख-अमेरिकी रहते है। कोरोना वायरस के कारण अमेरिका में न्यूयॉर्क के बाद न्यू जर्सी सर्वाधिक प्रभावित हुआ है।


प्रशंसनीय सेवाएं उपलब्ध 'बिजली-जेल'

राणा ओबराय

विकट परिस्थियों में प्रशंसनीय सेवाएं दे रहे बिजली व जेल विभाग के कर्मचारी;- मंत्री रणजीत सिंह


चंडीगढ़। हरियाणा के बिजली तथा जेल मंत्री श्री रणजीत सिंह ने कहा कि पूरे प्रदेश में रात के समय बिजली आपूर्ति को लेकर अधिकारियों को निर्देश दिए गए हैं कि कहीं पर किसी भी प्रकार का ब्रेकडाउन न हो। साथ ही, उपमंडल अधिकारियों को भी निर्देश दिए गए हैं कि 15 मिनट से ज्यादा के ब्रेकडाउन की जानकारी उच्चाधिकारियों को हर हाल में दी जाए जिसके लिए इन अधिकारियों की जवाबदेही भी तय की गई है। बिजली मंत्री ने कहा कि प्रदेशभर में लोगों से मिले सुझावों के आधार पर दिन के समय में ग्रामीण क्षेत्रों की बिजली में कटौती की गई है क्योंकि इस समय फसल पककर तैयार खड़ी है और कटाई चल रही है। इसलिए एहतियात के तौर पर ग्रामीण क्षेत्रों में दिन के समय बिजली आपूर्ति नहीं दी जा रही ताकि किसी भी तरह की आगजनी की घटना के चलते किसानों की फसल को नुकसान न हो। लेकिन इसके बावजूद हर जिले के सुपरिंटेंडेंट इंजीनियर को निर्देश दिए गए हैं कि अगर ग्रामीणों और ग्राम पंचायत में आम सहमति बनती है तो उन्हें दिन के समय भी बिजली की आपूर्ति की जाए ताकि आमजन को किसी भी प्रकार की परेशानी का सामना न करना पड़े। श्री रणजीत सिंह ने कोरोना वायरस के चलते लॉकडाउन में काम करने वाले बिजली विभाग के अधिकारियों और कर्मचारियों की पीठ थपथपाते हुए कहा कि विपदा की इस घड़ी में अपनी जान जोखिम में डालकर अति आवश्यक सेवाओं में शामिल बिजली आपूर्ति सेवा को सुचारू रूप से चलाने वाले कर्मियों और अधिकारियों का पूरा ख्याल रखा जाएगा। उन्होंने कहा कि इस विश्वव्यापी विपदा की घड़ी में विभाग के हर छोटे-बड़े कर्मचारी और अधिकारी ने शत-प्रतिशत योगदान दिया है और मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने भी इसकी प्रशंसा की है। श्री रणजीत सिंह, जिनके पास जेल विभाग भी है, ने सर्वोच्च न्यायालय के आदेश अनुसार बंदियों और कैदियों को पैरोल व जमानत देने के कार्य को अमलीजामा पहनाने के लिए जेल विभाग के कर्मचारियों और अधिकारियों का आभार जताते हुए कहा कि विभाग के अधिकारियों और कर्मचारियों ने समयबद्ध अवधि में यह काम पूरा किया है जो काबिले तारीफ है और उनकी निष्ठा को दिखाता है।


नाथन ने कोहली को 'सुपरस्टार' कहा

मेलबर्न/ सिडनी। ऑस्ट्रेलिया के स्पिनर नाथन लियोन ने भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली को सुपर स्टार बताया है लेकिन साथी के साथ मिलकर मजाक भी बनाया। भारत के खिलाफ चार टेस्ट मैचों की सीरीज की मेजबानी से पहले लियोन ने कहा कोहली खाली स्टेडियम में मैच होने पर सीट को जोश दिलाएंगे देखकर मजा आएगा। 


भारतीय टीम को साल के अंत में ऑस्ट्रेलिया के दौरे पर जाना है लेकिन फिलहाल कोरोना वायरस की वजह से सीरीज पर संशय है। लियोन भारत के खिलाफ सीरीज की मेजबानी करने को उत्सुक है। उन्होंने ESPNcricinfo से बात करते हुए मिडिल ऑर्डर बल्लेबाज जिन्होंने पिछले दौरे पर ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ मिली ऐतिहासिक सीरीज जीत में अहम भूमिका निभाई उनकी तारीफ की है। लियोन कहना था, मैं दरअसर मिशेल स्टार्क से बात कर रहा था और हम यह चर्चा कर रहे थे कि हम अगर बिना दर्शकों को खेलने उतरते हैं। ऐसे में यह देखना बड़ा ही मजेदार होगा कि कैसे विराट कोहली स्टेडियम की सीट को अपना उत्साह बढ़ाने के लिए प्रेरित करते हैं। यह जरा का अलग होने वाला है। लेकिन विराट कोहली तो सुपर स्टार हैं। वो किसी भी स्थिति और मौसम में खुद को ढालने में सक्षम है चाहे जिस तरह के भी मौहाल में हम खेलने उतरें। ऑस्ट्रेलिया का इस अनुभवी स्पिनर ने कहा कि वो इस बात से काफी उत्साहित हैं कि भारतीय टीम ऑस्ट्रेलिया में सीरीज खेलने आएगी। बॉर्डर गावस्कर सीरीज एशेज की तरह ही काफी बड़ी सीरीज है। पिछले दौरे पर विराट कोहली की कप्तानी वाली भारतीय टीम ने ऑस्ट्रेलिया को पहली बार ऑस्ट्रेलिया में टेस्ट सीरीज में हराने का कमाल किया था। चार मैचों की सीरीज में टीम इंडिया ने 2-1 से जीत हासिल की थी और कोहली ऐसा करने वाले पहले भारतीय कप्तान बने थे।


30 साल का तजुर्बा है। राजनीति,

इस्‍लामाबाद। कोरोना वायरस से जूझ रहे पाकिस्‍तान में इस महामारी को रोकने में बुरी तरह से फेल साबित हुए। प्रधानमंत्री इमरान खान अब दुनिया के सामने झोली फैलाकर खड़े हैं। उन्‍होंने जहां आईएमएफ और विश्‍व बैंक से कर्ज में राहत की मांग की है। वहीं विदेशों में बसे पाकिस्‍तानियों से चंदा मांगा है। यही नहीं इमरान खान ने दुनिया से चंदा मांगने को ही अपनी सबसे बड़ी खूबी भी बताया है। इमरान अपने इस विवादित बयान को लेकर अब सोशल मीडिया पर काफी ट्रोल हो रहे हैं। दरअसल, इमरान खान ने एक पाकिस्‍तानी टीवी चैनल से बातचीत में कहा, 'मैं बड़ी देर से पाकिस्‍तान में पैसा इकट्ठा कर रहा हूं। 30 साल से सबसे ज्‍यादा मेरा तजुर्बा है, पैसा इकट्ठा करने में।' इमरान का यह बयान अब सोशल मीडिया में काफी ट्रोल हो रहा है।


मलेरिया- रोधी दवा का होगा निर्यात

नई दिल्ली/ कुआलालंपुर। मलेशिया के कोविड-19 पीड़ित रोगियों के इलाज के लिए भारत हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्विन की टेबलेट्स की बिक्री के लिए राजी हो गया है। इस बात की जानकारी बुधवार को मलेशिया के एक मंत्री ने रॉयटर्स समाचार एजेंसी को दी। बता दें कि नई दिल्ली ने फिलहाल इस मलेरिया-रोधी दवा के निर्यात पर लगी हुई रोक को हटा दिया है। भारत हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्विन का दुनिया में सबसे बड़ा उत्पादक है। जिसकी खरीद दुनिया में इस समय सबसे ज्यादा बढ़ी हुई है। खासकर तबसे, जबसे अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने इसे कोविड-19 (नए कोरोना वायरस के संक्रमण से होने वाले रोग) के खिलाफ कारगर हथियार करार दिया है।


ईरानः 24 घंटे में 100 से कम मौत

तेहरान। ईरान देश में एक महीने में पहली बार कोरोना वायरस के संक्रमण से जान गंवाने वालों की संख्या 100 से कम रही है। स्वास्थ्य मंत्रालय के प्रवक्ता किनौश जहांपुर ने बताया कि पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस से 98 लोगों की मौत हुई है जिसके बाद देश में मृतकों की कुल संख्या 4,683 पहुंच गई है।


उन्होंने टेलीविजन पर प्रसारित संवाददाता सम्मेलन में कहा, ''दुर्भाग्य से, हमने बीमारी से संक्रमित अपने 98 और लोगों को खो दिया है...लेकिन एक महीने के इंतजार के बाद ऐसा पहली बार है कि मृतकों की संख्या 100 से कम रही है।" उन्होंने कहा, ''हम उम्मीद करते हैं कि आपके सहयोग और वायरस के प्रसार को रोकने के उद्देश्य से स्वास्थ्य दिशा निर्देशों का पालन करते हुए यह अभियान जारी रहेगा।" जहांपुर ने बताया कि अन्य 1,574 लोग इस वायरस से संक्रमित पाए गए है। उन्होंने बताया कि ईरान में कोरोना वायरस के संक्रमण के कुल मामलों की संख्या 74,877 हैं। राष्ट्रपति हसन रूहानी की सरकार लगभग दो महीने पहले शुरू हुई इस महामारी से निपटने के लिए संघर्ष कर रही है। देश में स्कूलों और विश्वविद्यालयों को बंद कर दिया गया है। प्रमुख कार्यक्रमों को स्थगित कर दिया गया है और कई अन्य पाबंदियां भी लगाई गई हैं। वहीं, स्पेन में कोरोना वायरस से 567 लोगों की मौत होने के बाद, इस देश में कोविड-19 से जान गंवाने वालों की संख्या बढ़ कर 18,056 हो गई है। आधिकारिक तौर पर स्पेन में मृतकों का यह आंकड़ा, अमेरिका और इटली के बाद दुनिया में तीसरा सर्वाधिक आंकड़ा है। स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, देश में नए संक्रमणों की संख्या में 1.8 फीसदी की वृद्धि होने के बाद, कोरोना वायरस से प्रभावित मामले 172,541 हो गए हैं। कोरोना वायरस का संक्रमण फैलने से रोकने के लिए स्पेन में 14 मार्च से लॉकडाउन लागू है। इस बीच, संयुक्त राष्ट्र महासभा की आगामी कुछ महीनों में होने वाली बैठकें कोविड-19 वैश्विक महामारी के कारण स्थगित कर दी गई हैं और सदस्य देश सितंबर में उच्च-स्तरीय वार्षिक यूएनजीए सत्र के आयोजन के संबंध में फैसला करने के लिए वार्ता कर रहे हैं। महासभा के 74वें सत्र के अध्यक्ष के कार्यालय ने बताया कि 20 से 27 अप्रैल तक जापान के क्योतो में होने वाली 'अपराध रोकथाम एवं आपराधिक न्याय' पर संयुक्त राष्ट्र की बैठक आगामी नोटिस आने तक स्थगित कर दी गई है। 'परमाणु हथियार मुक्त क्षेत्र एवं मंगोलिया' सम्मेलन, 2020 को 2021 के लिए स्थगित किया गया है। इसे अगले साल कब आयोजित किया जाना है, इसका फैसला महासभा अगले सत्र में करेगी। यह सम्मेलन 24 अप्रैल को होने वाला था। इसके अलावा जून में लिस्बन में होने वाले 'सतत विकास' लक्ष्य 14 के क्रियान्वयन पर सहयोग संबंधी सम्मेलन: सतत विकास के लिए महासागरों, समुद्रों के संसाधनों का संरक्षण एवं उचित उपयोग को भी स्थगित कर दिया गया है।


अरुणाचलः एक संक्रमित ठीक हुआ

ईटानगर। अरुणाचल प्रदेश का पहला कोरोना संक्रमित मरीज अब ठीक हो चुका है। मरीज का तीसरा टेस्ट किए जाने के बाद रिपोर्ट नेगेटिव आई है। इससे पहले मरीज को 13 दिन आइसोलेशन में रखा गया था और डॉक्टर लगातार मरीज की निगरानी कर रहे थे। यह जानकारी राज्य के मुख्यमंत्री पेमा खांडू ने खुद ट्वीट कर दी है। बता दें कि देश में कोरोनावायरस के संक्रमण के चलते जान गंवाने वाले लोगों की संख्या बुधवार को 377 हो गई जबकि इससे संक्रमित लोगों की कुल संख्या 11,439 है।


केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि संक्रमितों में कम से कम 1,305 लोगों को इलाज के बाद अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है और 9,756 लोगों का अब भी इलाज जारी है। इनमें से 76 विदेशी नागरिक हैं। वायरस से मंगलवार शाम से 24 लोगों की जान जा चुकी है, जिसमें से 18 लोग महाराष्ट्र, गुजरात और दिल्ली के दो-दो लोग और कनार्टक तथा तमिलनाडु का एक-एक व्यक्ति शामिल है। मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार देश में जान गंवाने वाले 377 लोगों में से सबसे अधिक 178 महाराष्ट्र के हैं. इसके बाद मध्य प्रदेश में 50, दिल्ली में 30, गुजरात में 28 और तेलंगाना में 17 लोगों की मौत हुई है। पंजाब और तमिलनाडु में अब तक 12-12 लोगों की, कर्नाटक में 10, आंध्र प्रदेश में नौ, पश्चिम बंगाल में सात ,उत्तर प्रदेश में पांच, जम्मू-कश्मीर में चार, हरियाणा एवं राजस्थान में तीन-तीन और झारखंड में दो लोगों की मौत हुई है।  इसके अलावा बिहार, हिमाचल प्रदेश, ओडिशा और असम में अब तक इस संक्रमण के कारण एक-एक व्यक्ति की मौत हुई है।


यूपीः 65 सैंपल में 60 नेगेटिव 2 पॉजिटिव

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के औरैया में तब्लीगी जमात के संपर्क में रहने वाले दो और लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। इससे पहले भी दो स्थानीय लोग कोरोना पॉजिटिव मिले थे। पूर्व में कोरोना कंफर्म केस में शुमार हुए चार जमातियों को मिलाकर जिले में अब तक कोरोना कंफर्म मामलों की संख्या आठ हो गई है। जिले में कोरोना संक्रमण की शुरुआत बाहर से आए जमातियों के कारण हुई थी।
19 मार्च को दिल्ली से आई 13 सदस्यीय जमात में 11 शामली और दो तेलंगाना के लोग थे। प्रशासनिक पड़ताल के बीच 31 मार्च को खानपुर की कुरैशियान मस्जिद से इन 13 लोगों को पकड़ा गया था। सभी को सौ शय्या जिला अस्पताल में आइसोलेट करने के बाद जांच कराई गई तो चार जमाती पॉजिटिव मिले थे। इसके बाद जमात के संपर्क में रहने वालों की खोजबीन शुरू हुई थी, जिसमें 51 लोगों में से 11 लोग जमात के रहबर के रूप में चिह्नित किए गए थे। इन 11 की जांच कराने पर एक दयालपुर और एक नारायणपुर मोहल्ले का शख्स पॉजिटिव पाया गया। मंगलवार को इसी तरह के संपर्क वाले दो और लोग कोरोना पॉजिटिव होने की रिपोर्ट आ गई।
दोनों हॉटस्पॉट में चिह्नित दयालपुर निवासी हैं। जिले में अब तक सामने आए कोरोना पॉजिटिव केसों की संख्या आठ हो गई है। प्रशासन ने जांच के लिए 65 सैंपल भेजे थे। इनमें से मंगलवार को दो की रिपोर्ट पॉजिटिव आई। तीन के सैंपल फिर मांगे गए हैं। 60 की रिपोर्ट निगेटिव आई है। 


डीएम अभिषेक सिंह ने बताया कि पॉजिटिव पाए गए दोनों मरीजों को कानपुर के सरसौल अस्पताल में भेजने की तैयारी की जा रही है। इससे पूर्व पॉजिटिव मिले सभी लोग भी सरसौल भेजे जा चुके हैं। वहां उपचार के लिए मंडल स्तरीय सेंटर बनाया गया है। निगेटिव रिपोर्ट वालों को दिबियापुर स्थित सरस्वती विद्या मंदिर के शेल्टर होम में भेजा जाएगा।


19 लोग खानपुर मदरसे में हैं क्वारंटीन
औरैया में तब्लीगी जमात के 13 में से 9 निगेटिव रिपोर्ट वाले जमाती, एक अजमेर का युवक व जमात के रहबर बने 11 में से 9 निगेटिव रिपोर्ट वाले औरैया के स्थानीय लोगों समेत 19 निगेटिव रिपोर्ट वाले लोगों को पूर्व में ही जिला प्रशासन सौ शय्या जिला अस्पताल से निकालकर खानपुर मदरसे में शिफ्ट करा चुका है। वहां उनकी सीसीटीवी कैमरों से निगरानी की जा रही है। यह लोग 14 दिन तक प्रशासन की निगरानी में रहेंगे।
आज पॉजिटिव मिलने वालों में एक दूधवाला
मंगलवार को पॉजिटिव मिले दो लोगों में से एक घरों में दूध सप्लाई करने का काम करता था। ऐसे में उसके जरिए संक्रमण फैलने की आशंका बढ़ गई है। प्रशासन इस बात की तसदीक कराने के साथ दोनों की पूरी पृष्ठभूमि की जानकारी जुटवा रहा है।


दिल्लीः 30 की मौत 1561 संक्रमित

नई दिल्ली। दिल्ली में कोरोना मरीजों की संख्या 1561 हो गई है। पिछले 24 घंटे में 51 नए मामले सामने आए, जबकि दो लोगों की मौत हुई है। अब तक दिल्ली में कोरोना से 30 लोगों की जान जा चुकी है। कंटेनमेंट जोन में 7 और इलाकों को शामिल किया गया है। इनकी संख्या बढ़कर अब 55 हो गई है।


कंटेनमेंट जोन के सभी इलाकों को सील्ड (S.H.I.E.L.D) किया गया है। इसमें (S) संक्रमित इलाके को सील करना, (H) होम क्वारनटीन करना, (I) ऐसे लोगों को आइसोलेट एवं ट्रेस करना जो किसी संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आए हों। (E) एसेंशियल कमोडिटी की सप्लाई जारी रहेगी, (L) लोकल सैनिटाइजेशन और डी (D) का मतलब डोर टू-डोर लोगों का चेकअप है।


मंगलवार को RML के दो डॉक्टर कोरोना पॉजिटिव पाए गए। दोनों को इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है। वहीं, मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों पर चिंता जताई है। उन्होंने कहा कि पिछले 2 महीनों में विदेश से काफी लोग दिल्ली आए। इसके अलावा यहां पर मरकज वाली घटना हुई. इससे बोझ पड़ा। इन कारणों से दिल्ली में केस बढ़े, लेकिन हम संभाल लेंगे।


बाबा की 129 वीं जयंती का आयोजन

प्रयागराज। ध्रमेंद्र रावत के निवास स्थान मलाक राज में बाबा साहब डॉक्टर भीमराव अंबेडकर जी की 129 वी जयंती बड़े धूमधाम से मनाई गई संस्था किरण की ओर से जरूरतमंद लोगों को बाबा साहब की जयंती के उपलक्ष में 300 पैकेट भोजन की व्यवस्था किया गया। जिसमें मुख्य रूप से रामकिशोर, धर्मेंद्र रावत, सुरेंद्रनाथ भारतीय, मनोज कुमार आर पी एफ, जीत राज जीतेंद्र, सचिन कुमार एडवोकेट, नरेंद्र कुमार, रतन कुमार अनुरागी, पप्पू, मोनू, अरुण कुमार, सोनू ,अरविंद,14 अप्रैल 2020 को संस्था किरण के महामंत्री धर्मेंद्र रावत के निवास स्थान मलाक राज में बाबा साहब डॉक्टर भीमराव अंबेडकर जी की 129 वी जयंती बड़े धूमधाम से मनाई गई संस्था किरण की ओर से जरूरतमंद लोगों को बाबा साहब की जयंती के उपलक्ष में 300 पैकेट भोजन की व्यवस्था किया गया। जिसमें मुख्य रूप से रामकिशोर, धर्मेंद्र रावत, सुरेंद्रनाथ भारतीय, मनोज कुमार आर पी एफ, जीत राज जीतेंद्र, सचिन कुमार एडवोकेट, नरेंद्र कुमार, रतन कुमार अनुरागी,विक्री रावत पप्पू, मोनू, अरुण कुमार, सोनू ,अरविंद, आदि ने भाग लिया। आदि ने भाग लिया।


रिपोर्ट- बृजेश केसरवानी


गरीब-वंछित लोगों को राहत सामग्री

गंगटोक। सिक्किम में कोरोना वायरस (कोविड-19) के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए लागू 21 दिनों के लॉकडाउन के पहले चरण में 1.25 लाख गरीब एवं वंचित लोगों के बीच राहत सामग्रियों का वितरण किया गया है। 


मुख्यमंत्री पी एस तमांग ने बुधवार को बताया कि राज्य सरकार ने बिना किसी भेदभाव के दिहाड़ी कामगारों, प्रवासी मजदूरों तथा गरीबी रेखा के नीचे जीवन यापन करने वाले परिवारों के बीच राहत सामग्रियों का वितरण किया है। उन्होंने कहा कि परिवार के सदस्यों को ध्यान में रखते हुए जरूरतमंद लोगों को चावल, दाल, प्याज, तेल, नमक और आलू उपलब्ध कराये गये हैं। तमांग ने कहा कि मंगलवार को समाप्त हुए लॉकडाउन के पहले चरण के दौरान प्रत्येक आशा कार्यकर्ता को पांच हजार रुपये देने का फैसला किया गया है। इसके अलावा स्वास्थ्य, पुलिस एवं सफाई कर्मचारियों को तीन-तीन हजार रुपये देने का पहले ही आश्वासन दिया जा चुका है। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य के बाहर फंसे हुए दवा कंपनियों में काम करने वाले उन कर्मचारियों को वेतन और अन्य भत्ते दिये जायेंगे लेकिन लॉकडाउन की अवधि में उन्हें राज्य के भीतर प्रवेश करने की इजाजत नहीं दी जाएगी। ऐसा कोरोना के संक्रमण के फैलाव को रोकने के लिए किया जाएगा।


लॉटरी विजेता को सांत्वना पुरस्कार

इंफाल। मणिपुर, भारत  में लॉटरी इन इंडिया केरल, गोवा, सिक्किम, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, पंजाब, पश्चिम बंगाल, असम, अरुणाचल प्रदेश, मेघालय, मणिपुर, नागालैंड और मिज़ोरम राज्यों में लॉटरी को कानूनी रूप से अनुमति हैं। इसी कड़ी में मणिपुर सिंगम टैगेट मॉर्निंग लॉटरी मणिपुर सिंघम टैगेट  लॉटरी एक लोकप्रिय साप्ताहिक लॉटरी है। जिसका मूल्य 6 रुपये है। इस लॉटरी के प्रथम विजेता को 27 लाख का इनाम दिया जाता है दूसरा पुरस्कार 5,000, तीसरा पुरस्कार 1000, 4वां पुरस्कार 700 और 500 रुपये का 5वां पुरस्कार है। इसके अलावा 10,000 का सांत्वना पुरस्कार भी दिया जाता है।


मणिपुर सिंगम टैगेट लॉटरी का समय और अपडेट सिंगम टैगेट्स मॉर्निंग लॉटरी का परिणाम सुबह 11 बजे घोषित किया जाता है और इसे आधिकारिक वेबसाइट पर देखा जा सकता है। मणिपुर में भी एक दिन और एक शाम की लॉटरी क्रमशः दोपहर 3 और शाम 7 बजे होती है। 3 बजे की लॉटरी को आमतौर पर मणिपुर सिंघम विंका डे लॉटरी के रूप में जाना जाता है, जबकि 07 बजे की लॉटरी को मणिपुर सिंघम प्लूमिया इवनिंग लॉटरी के रूप में जाना जाता है। सुबह, दिन, और शाम तीनों लॉटरी में प्रथम पुरस्कार 27 लाख है। विजेताओं को विजेता राशि प्राप्त करने के लिए इंफाल में मणिपुर लॉटरी कार्यालय में वैध कागजात दिखाने होंगे। लॉटरी का संचालन मणिपुर लॉटरी, सजेंटहॉन्ग, इम्फाल, मणिपुर के निदेशक द्वारा किया जाता है। इसके लिए अधिकृत लॉटरी रिटेलर से टिकट खरीद सकते हैं। लॉटरी पुरस्कार का दावा करने के लिए विजेताओं को मणिपुर लॉटरी का एक दावा प्रपत्र डाउनलोड करना होगा। इसे ऑनलाइन या ऑफलाइन के जरिए लिया जा सकता है। जिसे भरने के बाद जमा करवाना होगा। पुरस्कार राशि का भुगतान चेक / डीडी के रूप में किया जाएगा या आवश्यक शुल्क में कटौती के बाद दावेदार के खाते में सीधे हस्तांतरण किया जाएगा।


मेघालय में कोरोना वायरस से 1 मौत

सिलांग। मेघालय के मुख्यमंत्री कोनराड संगमा ने बताया कि मेघालय में कोरोना वायरस से संक्रमित एक व्यक्ति की मौत हो गई। मृतक के परिवार के एक सदस्य ने 'पीटीआई-भाषा को बताया कि 69 वर्षीय डॉक्टर जॉन एल साइलो का तड़के पौने तीन बजे निधन हो गया।


वह बेथनी अस्पताल के संस्थापक थे। उनमें सोमवार शाम कोरोना वायरस संक्रमण की पुष्टि हुई थी। मुख्यमंत्री ने ट्वीट किया, 'मुझे यह बताते हुए काफी दुख हो रहा है कि मेघालय में कोविड-19 से संक्रमित पाए गए पहले शख्य का तड़के पौने तीन बजे निधन हो गया। उनके परिवार और प्रियजनों के साथ मेरी संवेदनाए हैं। भगवान उनकी आत्मा को शांति दे।' देश में कोरोना से अब तक कितनी मौत? कोरोना वायरस का संक्रमण भारत में लगातार बढ़ रहा है। देश में पिछले 24 घंटे में 1076 पॉजिटिव मामले सामने आने के बाद कोरोना से संक्रमित लोगों की संख्या बढ़कर 11439 हो गई है। वहीं, पिछले 24 घंटे में कोरोना से 38 लोगों की मौत हुई है, जिससे कोविड-19 महामारी से मरने वालों का आंकड़ा 377 पहुंच गया है। स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी ताजा आंकड़ों के मुताबिक, कोरोना वायरस के कुल 11439 मामलों में से 9756 एक्टिव केस हैं। इसके अलावा, 1305 लोग पूरी तरह से ठीक हो गए हैं या उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है।


मिजोरमः कोरोना संक्रमण की शुरुआत

आइजोल। मिजोरम ने COVID-19 का दूसरा मामला दर्ज किया। मुंबई में एक 26 वर्षीय महिला ने खतरनाक वायरस के लिए सकारात्मक परीक्षण किया है। इस बात की जानकारी मिजोरम के मुख्य सचिव लालनमुमाविया चुआंगो ने दी। मुख्य सचिव ने कहा कि अलगाव की प्रक्रिया अभी शुरू हुई है और उसका इलाज मुंबई के एक अस्पताल में चल रहा है।इस बीच, कोरोनोवायरस के प्रसार को रोकने के लिए मिजोरम ने 30 अप्रैल तक लॉकडाउन का विस्तार किया।हालांकि, प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने अगले 3 मई तक देशव्यापी बंद का विस्तार किया था।


मासूमः घर पर रहे, सुरक्षित रहे।

अतुल त्यागी मंडल प्रभारी, प्रवीण कुमार रिपोर्टर पिलखुआ


दुनिया में तेजी से फैल रहे कोविड-19 को लेकर मासूम ने दिया पेंटिंग बनाकर लोगों को संदेश।


हापुड़। पिलखुवा कोतवाली क्षेत्र के, डी पी एस पब्लिक स्कूल में पढ़ने वाले घर पर ही रह कर पढ़ाई कर रहे 11 साल के मासूम ने पेंटिंग बनाकर अपने देश को संदेश दिया है घर पर रहे सुरक्षित रहे। पिलखुवा के कक्षा 5 में पढ़ने वाले छात्र आदित्य वर्मा ने कोरोना वायरस को लेकर लोगों को बहुत ही अच्छा संदेश दिया है जो तारीफे काबिल है मासूम द्वारा बनाई गई पेंटिंग घर में रहने का इशारा करती हुई साफ दिखाई दे रही है जिसकी चारों तरफ प्रशंसा हो रही है घर पर रहें सुरक्षित रहें।


किसानों की गेहूं की फसल जलकर खाक

40 बीघे अरहर व गेहूं की फसल जलकर खाक


अज्ञात के खिलाफ किसानों ने दी थाने में तहरीर


फतेहपुर। खखरेरू थाना क्षेत्र के कोट गांव में मंगलवार को दोपहर को अरहर व गेहू के खेत में  आग लगने से  40 बीघे में खड़ी फसल जलकर राख हो गई। किसानों ने अज्ञात लोगों के खिलाफ खखरेरू थाने में तहरीर दी है।


कोट गांव के उत्तर में आज अरहर व गेंहू की खड़ी फसल में अचानक आग लग गई ।किसानों को खबर मिली मौके पर पहुंचे आग विकराल रुप धारण कर चुकी थी आग की लपटों ने किसानों को नजदीक नहीं फटकने दिया। किसानों का आरोप है कि संदिग्ध लोगों ने खेत में आग लगा दी। जिससे 40 बीघे अरहर और गेहू की खड़ी फसल  चपेट में आ गई।कोट गाँव के किसान मोहम्मद अली की 12 बीघाः अरहर,आसिफ आलम की 12 बीघा अरहर, अहमद पथरौल 6 बीघा अरहर, अब्दुल मुकीम 3 बीघा अरहर, फ़ज़ल महमूद 3 बीघा अरहर, मो0 सारिक 3 बीघा गेहूं एवं आज़म खान की 2 बीघा गेहूं की खड़ी जलकर राख गई है।
 सूचना पर क्षेत्रीय थाना पुलिस व हल्का लेखपाल धर्मेंद्र मौके पर पहुच कर फसल के नुकसान के आंकलन में जुट गये। थानाध्यक्ष ने बताया  तहरीर  मिली जांच कर आगे की कार्यवाही की जायेगी।


चीनः संक्रमण संख्या बढ़कर हुई 1500

बीजिंग। चीन के स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने विदेश से आ रहे नागरिकों को लेकर चिंता जताते हुए कहा है कि चीन-रूस सीमा पर स्थित सुईफिने शहर नया वुहान बनता जा रहा है। इस शहर में रूस से आए ज्यादातर लोग कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। चीन में विदेश से आए संक्रमितों की संख्या बढ़कर 1500 से ज्यादा हो गई है। राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग ने मंगलवार को 57 और ऐसे लोगों की सूची जारी की जो संक्रमित तो हैं, लेकिन उनमें लक्षण नहीं दिखाई दे रहे। देश में ऐसे मामलों की संख्या 1,023 है। हुबेई प्रांत में कोरोना वायरस से एक व्यक्ति की मौत के बाद देश में कोरोना के चलते जान गंवाने वालों की संख्या 3,342 हो गई। मंगलवार तक देश में संक्रमण के 82,295 मामले सामने आ चुके थे। देश में 77,816 लोग ठीक भी हो चुके हैं।


सुईफिने शहर में रूस से आए ज्यादातर लोग कोरोना संक्रमित पाए गएः हेलोनजियांग प्रांत के सुईफिने शहर में रूस से आ रहे चीनी नागरिकों में संक्रमण को देखकर स्वास्थ्य विशेषज्ञ चिंता में पड़ गए हैं। सोमवार को 70 हजार की आबादी वाले सुईफिने शहर में आयातित संक्रमण के सर्वाधिक 79 मामले दर्ज किए गए। संक्रमित लोगों की संख्या को देखते हुए सुईफिने बंदरगाह को बंद कर दिया गया है। हेलोनजियांग प्रशासन से जुड़े एक शोधकर्ता हाओ जून के मुताबिक सुईफिने बंदरगाह से जो 366 लोग आए, उनमें से ज्यादातर मॉस्को की दो बाजारों में संक्रमित हुए थे। सुईफिने शहर में प्रवेश करने वाले 1,479 लोगों को क्वारंटाइन में रखा गयाः उन्होंने कहा कि रूस से लौटे लोग अपनी यात्रा के दौरान लंबे समय तक एक-दूसरे के संपर्क में रहे, जिससे संक्रमण का खतरा बढ़ा। सरकारी समाचार पत्र ग्लोबल टाइम्स के मुताबिक, सुईफिने शहर में प्रवेश करने वाले 1,479 लोगों को क्वारंटाइन में रखा गया है। माना जा रहा है कि इनमें से 15 से 20 फीसद लोग संक्रमित हो सकते हैं।


पब्लिक प्लेस पर मास्क किया अनिवार्य

गाइडलाइंस जारी, पब्लिक प्‍लेस में मास्क पहनना अनिवार्य, थूकने पर जुर्माना
नई दिल्‍ली। सरकार ने गाइडलाइंस जारी कर दिए गए हैं। पिछली बार की तुलना में तीन मई के लिए जो लॉकडाउन संबंधी दिशा-निर्देश जारी किए गए हैं, उनमें सख्‍ती बरती गई है। अब सार्वजनिक स्‍थलों पर मास्‍क पहनना अनिवार्य कर दिया गया है। सार्वजनिक स्‍थलों पर थूकने पर जुर्माना लगाया जाएगा। गृह मंत्रालय ने लॉकडाउन पर दिशा-निर्देशों में कहा कि लोगों की अंतर-राज्यीय, अंतर-जिला आवाजाही, मेट्रो, बस सेवाओं पर तीन मई तक रोक जारी रहेगी। इस लिहाज से सभी तरह के परिवहनों पर 3 मई तक रोक जारी रहेगी। दफ्तर और सार्वजनिक जगहों पर मास्क लगाना अनिवार्य कर दिया गया है।
गृह मंत्रालय के नए दिशा-निर्देशों के मुताबिक शैक्षणिक संस्थान, कोचिंग केंद्र, घरेलू एवं अंतरराष्ट्रीय हवाई यात्रा, ट्रेन सेवाएं तीन मई तक स्थगित रहेंगी। सिनेमा हॉल, मॉल्स, शॉपिंग कॉम्प्लेक्स, जिम, खेल परिसर, स्विमिंग पूल, बार भी बंद रहेंगे। लॉकडाउन के दौरान सभी सामाजिक, राजनीतिक, खेल, धार्मिक समारोह, धार्मिक स्थल, प्रार्थना स्थल भी तीन मई तक जनता के लिए बंद रहेंगे।
इसके साथ ही ये भी इन दिशा-निर्देशों में कहा गया कि 20 अप्रैल से जिन गतिविधियों को मंजूरी दी जाएगी उनमें कृषि, बागवानी, खेती, कृषि उत्पादों की खरीद, ‘मंडियां’ शामिल होंगी।
इससे पहले पीएम नरेंद्र मोदी ने 14 अप्रैल को कोरोना वायरस के कारण देश में लगाए गए लॉकडाउन की अवधि को 3 मई तक बढ़ाने की घोषणा की थी। उससे पहले 14 अप्रैल को 21 दिन का लॉकडाउन खत्‍म हो रहा था। पीएम मोदी ने कोरोना की चुनौती को देखते हुए इसको 19 अतिरिक्‍त दिन बढ़ाने की घोषणा की थी। तब से ही इसको लॉकडाउन 2.0 कहा जा रहा है। उन्‍होंने ये घोषणा करने के साथ ही कहा था कि 15 अप्रैल को लॉकडाउन 2.0 के संबंध में नई गाइडलाइंस जारी की जाएगी। उसी कड़ी में ये गाइडलाइंस जारी किए गए हैं।
पीएम मोदी ने ये भी कहा था कि इस बार अगले एक हफ्ते तक लॉकडाउन का पिछली बार की तुलना में अधिक सख्‍ती से पालन किया जाएगा। इस दौरान देश के सभी क्षेत्रों, इलाकों और थानों का बारीकी से निरीक्षण किया जाएगा। उसके बाद यदि स्थिति में सुधार दिखता है तो 20 अप्रैल से चुनिंदा जगहों पर सशर्त छूट दी जा सकती है।


रेवाड़ीः 59 में से 53 की रिपोर्ट नेगेटिव

रेवाड़ी के लिए राहत की खबर, 59 में से 53 की रिपोर्ट आई निगेटिव
रेवाड़ी। मंगलवार को रेवाड़ी प्रशासन के लिए राहत भरी खबर आई। 59 पेंडिंग रिपोर्ट में से कोविड-19 की 53 रिपोर्ट निगेटिव पाई गई है। रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद प्रशासन ने राहत की सांस ली, वहीं स्वास्थ्य विभाग को भी राहत मिली। बता दें कि इस जिला स्वास्थ विभाग द्वारा 12 तारीख से कुछ रिपोर्ट पेंडिंग चल रही थी, जिनमें से कुल मिलाकर 59 रिपोर्ट थी अब बस हम 12 तारीख को ली गई 6 है रिपोर्ट बची हुई है बाकी सभी रिपोर्ट आ चुकी है। बता दें कि जिले में अभी तक एक भी पॉजीटिव केस नहीं पाया गया है। प्रदेश में महज दो ऐसे जिले हैं रेवाड़ी व महेंद्रगढ़ जिनमें अभी तक पॉजिटिव केस नहीं मिला है।


पंचकूला में नया मामला, मचा हड़कंप

राणा ओबरॉय


पंचूकला। पंचकूला में कोरोना कि एक और नया मामला सामने आने के बाद पंचकूला जिला प्रशासन में स्वास्थ्य विभाग में मचा हड़कंप। सीएमओ डॉ जसजीत कौर ने पुष्टि की है । पंचकूला में कोरोनाग्रस्त मरीजों की संख्या बढ़कर हुई चार हो गयी है। पंचकूला के सेक्टर 15 की निवासी महिला की रिपोर्ट आई कोरोना पॉजिटिव। देर रात 11.30 बजे पॉजिटिव पाए जाने से हड़कम्प मच गया हे । प्रशासन ने पूरा सेक्टर सील कर दिया हे और लोगों को घरों से बाहर न निकालने की हिदायत दी हे । यह मरीज़ मकान नबर 2172 सेक्टर 15 की रहने वाली हे ।सोनिया महाजन जिसकी रिपोर्ट को पॉजिटिव पाया गया, उसकी कोई यात्रा इतिहास नहीं है, कोविद विरोस के रूप में अच्छी तरह से क्लिनिक से फैली हुई है, इसलिए पीकेएल के सभी नागरिकों को घर से बाहर न आने की सलाह दी गई हे ।प्रशासन द्वारा आवश्यक वस्तुओं की व्यवस्था की जाएगी । प्रशासन की तरफ़ से यह लेटर भी जारी किया गया है । इस समूह के सभी आरडब्ल्यूए से अनुरोध है कि इस संदेश के माध्यम से जनता को हमारे शहर में कोरोना रोकने के लिए जागरूक करें। दूसरी तरफ़ जवाहर नगर डेराबसीं से राहत की ख़बर हे अन्य 3 की रिपोर्ट negitive आयी बतायी जाती है।
वहीं पॉजिटिव महिला मरीज़ को आइसोलेशन वार्ड में किया गया भर्ती। स्वास्थ्य विभाग की टीम इस कोरोनाग्रस्त महिला के संपर्क में आए लोगों व परिजनों को ट्रेस करने व उनको आइसोलेट करने की प्रक्रिया में जुटी।


नीचता की हद, सरेराह खुलेआम लूट

नीचता की हद पार, सरेराह खुलेआम लूट
अकाशुं उपाध्याय
गाजियाबाद। जाहिर सी बात है निकट भविष्य में ज्यादातर लोगों ने इस प्रकार की परिस्थितियों का कोई अनुभव नहीं किया है। बल्कि लंबे समय से भारत में किसी महामारी का कोई प्रकोप नहीं रहा है। महामारी के प्रभाव से शासकीय व्यवस्थाओं की चूलें हिल चुकी है। जिसके परिणाम स्वरूप देश में सरेराह खुलेआम अपराध पनप रहा हैं। देश की शासन व्यवस्था भ्रष्टाचार की गहरी खाई में उतर गई है। 'लॉक डाउन' की परिभाषा बदलकर खुली लूट में तब्दील हो गई है। उत्तर-प्रदेश की योगी सरकार में गरीब-मजदूर के साथ इतना घटिया मजाक हुआ।जो न इससे पूर्व हुआ है और भविष्य में इसकी कल्पना नहीं की जा सकती है। योगी सरकार के द्वारा गरीब-मजदूर राशन कार्ड धारकों को प्रति यूनिट 5 किलो अनाज वितरण करने की योजना में सरकारी तंत्र लूट का षडयंत्र रच चुका है। प्रति यूनिट वितरण प्रणाली में सस्ते सरकारी गल्ले की दुकान संचालक और गाजियाबाद खाद आपूर्ति विभाग के द्वारा सुनियोजित ढंग से अनाज की कालाबाजारी और सेंधमारी का सुनियोजित षड्यंत्र जग जाहिर हो गया है। अनाज प्राप्ति के लिए कड़ी धूप में लाइनों में लगे नागरिकों को निर्धारित अनाज नहीं मिला है। कहीं 1 किलो कम, कहीं 2 किलो कम और कहीं-कहीं तो पूरी-पूरी यूनिट का ही अनाज नहीं दिया गया है। इस विषय में उपजिला अधिकारी खालिद अंजुम खान से जानकारी करने पर ज्ञात हुआ कि ऐसा विधिक-प्रक्रिया के विरुद्ध किया जा रहा है और इसके विरुद्ध आवश्यक कार्यवाही का आश्वासन भी दिया गया।
 विशेष बात यह है कि इतनी दुर्गम और विषम परिस्थिति में गरीब के निवाले पर जिला प्रशासन की शह पर खाद आपूर्ति विभाग इतने बड़े स्तर पर सेंधमारी कर रहा है। स्थानीय जनप्रतिनिधी अपनी सुख-सुविधाओं में किसी प्रकार का कष्ट नहीं चाहते हैं। परंतु संकट के समय में उपकारी और अपकारी का ज्ञान होता है। कमजोर नेतृत्व की मानसिकता की आड़ में कहीं हमारे जनप्रतिनिधि ही इस लूट का हिस्सा तो नहीं है? अधिकारी तो मुख्यमंत्री के निर्देशन में यह खुली लूट कर रहे हैं। लेकिन स्थानीय जनप्रतिनिधि इतने नीच कैसे हो सकते हैं? जिस जनता पर  उनका शासन स्थित है। उन्हीं गरीब-मजबूर और असहाय लोगों के मुंह से निवाला छीनने का छद्म कार्य आखिर किसकी सह पर हो रहा है? हालांकि इसका कोई भी परिणाम अथवा निष्कर्ष निकलने वाला नहीं है। क्योंकि शासन-प्रशासन की सूझबूझ के बिना इतना बड़ा अपराध संभव नहीं है। परंतु 'चोर-चोर मौसेरा भाई', जो भी इस भ्रष्टाचार की गठरी सर पर रखे हुए हैं। उसके पैरों के नीचे कानून तिल-मिला रहा है। यह सरकार के प्रति निष्ठा और संविधान के प्रति कर्तव्य परायणता सहित दोनों का ही पतन है।


भारत: 377 की मौत, 11439 संक्रमित

नई दिल्ली। तमाम कोशिशों के बावजूद कोरोना वायरस के प्रसार पर बहुत हद तक रोक नहीं लग पा रही है। खासकर महाराष्ट्र में तेजी से संक्रमण के मामले बढ़ रहे हैं। सोमवार की तुलना में मंगलवार को नए मामलों की रिकॉर्डतोड़ बढोत्तरी हुई है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक सोमवार शाम से मंगलवार शाम तक 1,463 नए मामले सामने और 29 लोगों की जान गई। इनको मिलाकर अब तक 377 लोगों की जान जा चुकी है, जबकि 11439 संक्रमित हुए हैं। 1,190 व्यक्ति अभी तक उपचार के बाद भी पूरी तरह से स्वस्थ भी हुए हैं।


महाराष्ट्र में इस महामारी से अब तक 375 लोगों की जान जा चुकी है। मंगलवार को और 25 लोगों की मौत हुई है। इसमें महाराष्ट्र में 18, गुजरात, आंध्र प्रदेश और कर्नाटक में दो-दो और उत्तर प्रदेश में एक मौत शामिल है। महाराष्ट्र में 15 में से 11 मौतें अकेले मुंबई में हुई है। मुंबई में मृतकों की संख्या भी 111 हो गई है। जबकि अगर महाराष्ट्र की बात करें तो अब तक 178 लोगों की जान जा चुकी है।


महाराष्ट्र में 350 नए संक्रमित केस भी मिले हैं और कुल मामले 2,684 हो गए हैं। इसमें सात नए केस अकेले नागपुर में मिले हैं। नागपुर में पिछले कुछ दिनों से लगातार नए मामले बढ़ते जा रहे हैं। अब तक जिले में 42 पॉजिटिव केस मिल चुके हैं। राज्य में अभी तक 259 लोग ठीक भी हुए हैं।


तेलंगाना में आए 61 नए मामलेःआंध्र प्रदेश में 34 नए मामले सामने आए हैं और संक्रमितों की संख्या 473 हो गई है। जबकि, उसके पड़ोसी राज्य तेलंगाना में 61 नए मामले सामने आए हैं और संक्रमितों की संख्या 592 हो गई है। कर्नाटक में और 13 मामले सामने आए हैं और कुल संख्या 260 हो गई है। जबकि, केरल में आठ नए केस के साथ संक्रमित 386 हो गए हैं। राज्य की स्वास्थ्य मंत्री के मुताबिक इनमें से 211 संक्रमित अभी तक पूरी तरह से ठीक भी हो चुके हैं। तमिलनाडु में 38 नए केस मिले हैं और संक्रमित 1211 हो गए हैं।


झारखंड में तीन नए केसःगुजरात में भी तेजी से संक्रमण अपना पांव पसार रहा है। यहां रोजना नए मामलों में वृद्धि हो रही है। मंगलवार को भी 78 संक्रमित पाए गए और कुल संख्या 650 हो गई। झारखंड में तीन नए केस मिले हैं और 33 संक्रमित हो गए हैं।


उत्तर प्रदेश में 12 नए मामलों के साथ आंकड़ा 651 पर पहुंच गया है। जम्मू-कश्मीर में और आठ मामले मिले हैं और संक्रमित 278 हो गए हैं। कई दिनों के बाद लद्दाख में भी दो नए केस सामने आए हैं और संक्रमितों की संख्या 19 हो गई है।


राजस्थान में 72 नए केसः राजस्थान में भी नए मामलों के मामले कम नहीं हो रहे। मंगलवार को 72 नए केस सामने आए और संक्रमितों की संख्या 969 हो गई। मध्य प्रदेश में 86 मामले मिले हैं। राज्य में अब तक कुल 739 संक्रमित केस मिल चुके हैं। वहीं दो नए मामलों के साथ छत्तीसगढ़ में 33 संक्रमित हो गए हैं।


एक दिन में सबसे ज्यादा नए मामलों वाले पांच राज्य


राज्य          नए मामले        कुल मामले


महाराष्ट्र      350                 2,684


मध्य प्रदेश   86                   739


गुजरात       78                    650


राजस्थान    72                    969


आंध्र प्रदेश   34                    473


देश में कुल संक्रमित


राज्य                     संक्रमित


महाराष्ट्र –              2,684


दिल्ली –                1,510


तमिलनाडु –           1,211


राजस्थान –            969


मध्य प्रदेश –           739


उत्तर प्रदेश –          651


गुजरात –               650


तेलंगाना –             592


आंध्र प्रदेश –           473


केरल –                  386


जम्मू-कश्मीर –       278


कर्नाटक –              260


हरियाणा –             184


पंजाब –                184


बंगाल –                137


बिहार –                 66


ओडिशा –               55


उत्तराखंड –            35


हिमाचल प्रदेश –      33


छत्तीसगढ़ –           33


असम –                  30


चंडीगढ़ –                21


झारखंड –               24


लद्दाख –                19


अंडमान-निकोबार – 11


पुडुचेरी –                 8


गोवा –                   7


मणिपुर –               2


त्रिपुरा –                  2


मिजोरम –             1


नगालैंड –              1


आगरा के मरीजों की 8 जिलों में तलाश

आगरा। पारस अस्पताल में 22 मार्च से छह अप्रैल तक उपचार कराने वाले लोगों की आठ जिलों में तलाश हो रही है। इन लोगों के संक्रमित होने की आशंका है, क्योंकि अस्पताल से 28 में संक्रमण पहुंचने की पुष्टि हो चुकी है। प्रशासन ने अस्पताल का रिकॉर्ड कब्जे में लेकर मरीजों की सूची बनाई है। इसे अलग अलग जिलों के प्रशासन को भेजा जा रहा है।


आगरा में देहात से बड़ी संख्या में मरीज यहां आते हैं। इसके अलावा फिरोजाबाद, मैनपुरी, अलीगढ़, हाथरस, एटा, कासगंज, मथुरा से मरीज इस अवधि में आए थे। आगरा में डीएम ने लोगों से अपील की थी कि वे स्वयं आकर जांच कराएं। इसी तरह अन्य जिलों में अपील जारी की गई।


मरीजों और उनके संपर्क में रहे लोगों की सूची बनाकर उन्हें क्वारंटीन किया जा रहा है। टूंडला में छह संक्रमित मिल चुके हैं। मथुरा में संक्रमण इसी हॉस्पिटल से पहुंचा। यहां भर्ती रही ढोलीखार की महिला मथुरा के नयति में शिफ्ट हो जाने के बाद ही संक्रमित पाई गई थीं। मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. मुकेश वत्स ने बताया कि मरीजों की सूची बनाकर संबंधित जिलों को भेज दी गई है।


अस्पताल से क्वारंटीन सेंटर में शिफ्ट किए गए मरीज
पारस अस्पताल में भर्ती सभी मरीजों को मंगलवार को आस पास के क्वारंटीन सेंटर में शिफ्ट कर दिया गया। यहां दो दिन में दो महिलाओं की मौत हो गई थी। मरीजों के तीमारदार भी लगातार कह रहे थे कि वे कहीं और जाना चाहते हैं।
इस पर प्रशासन ने यह फैसला लिया। मंगलवार सुबह अपरजिलाधिकारी शहर प्रभाकांत अवस्थी और एसपी सिटी बोत्रे रोहन प्रमोद ने अस्पताल का जायजा लिया। इसके बाद दोपहर से मरीजों को शिफ्ट किया जाना शुरू हो गया। शाम तक सभी शिफ्ट कर दिए गए।


फिरोजाबाद में सात लोग ट्रेस, मैनपुरी के तीन लोगों की हो चुकी है मौत, भोगांव से 33 के सैंपल भेजे


कोरोना का गढ़ बने पारस अस्पताल से संक्रमित हुए लोगों की आठ जिलों में तलाश जारी है। फिरोजाबाद को दी गई 15 लोगों की सूची में से सात को ट्रेस कर लिया गया है तो वहीं मैनपुरी के भोगांव से 33 लोगों के नमूने भेजे गए हैं। इससे पहले अब तक पारस में भर्ती रहे तीन लोगों की मौत हो चुकी है। हाथरस में भी यहां इलाज कराने वाले लोगों को चिह्नित कर उनके घरों को सैनिटाइज किया गया है।


फिरोजाबाद : आगरा से मिली 15 लोगों की सूची
फिरोजाबाद में टूंडला के गांव प्रतापपुर में छह लोग पारस अस्पताल के कर्मचारी के सपंर्क में आने से संक्रमित हुए थे। इसके बाद उन लोगों की तलाश की जा रही है जिन्होंने इस अस्पताल में उपचार कराया हो। जिले के 15 लोगों की सूची आगरा प्रशासन ने जिला प्रशासन को सौंपी है।
मंगलवार तक जिला प्रशासन ने इनमें से सात लोगों को ट्रेस कर लिया। इनमें से सिरसागंज से चार लोगों को शिकोहाबाद में और टूंडला के दो लोगों को एफएच मेडिकल कॉलेज में क्वारंटीन किया गया है। 


मैनपुरी: मरीजों के परिजनों को क्वारंटीन किया
पारस अस्पताल से उपचार कराकर लौटे जिले के तीन मरीजों की मौत भी हो चुकी है। स्वास्थ्य विभाग ने इनके परिजनों की स्क्रीनिंग कराते हुए होम क्वारंटीन किया है। जिला प्रशासन को पारस अस्पताल आगरा से 17 लोगों की सूची मिली है। इनमें औड़ेन्य पड़रिया निवासी वृद्ध की मौत 29 मार्च को आगरा में उपचार के दौरान हुई थी तो वहीं बरनाहल थाना क्षेत्र के गांव कसौली निवासी युवक की मौत सैफई मेडिकल कॉलेज में हुई थी। करहल के नगला जोर निवासी युवक की भी आगरा में उपचार के दौरान मौत हुई थी।


हाथरस : संपर्क में रहे लोगों के घरों को किया सैनिटाइज
पारस अस्पताल में उपचार कराने वाले लोगों को जिला प्रशासन ने चिह्नित कर लिया है। इन लोगों के आसपास के क्षेत्र और घरों को पूरी तरह सैनिटाइज कर दिया गया है। जिले के पांच लोग भी उस अवधि में पारस अस्पताल में उपचार के लिए गए थे। इन सभी को क्वारंटीन कर दिया गया है। जिला प्रशासन इन सभी के संपर्क में आने वाले लोगों का डाटा भी एकत्रित कर रहा है।
जांच रिपोर्ट आने पर ही होगा शव का अंतिम संस्कार
आइसोलेशन वार्ड में भर्ती युवक की मौत के बाद अब परिजनों को उसका शव मिलने का इंतजार है। इसके बाद ही अंतिम संस्कार किया जाएगा। कोतवाली हाथरस गेट के गांव नयावास अहवरनपुर निवासी युवक आगरा के पारस अस्पताल में भर्ती रहा था। जहां पर सोमवार की सुबह करीब साढ़े 11 बजे उसकी मौत हो गई थी। जिला प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग ने एहतियात के तौर पर उसके शव को सैनिटाइज करके पोस्टमार्टम हाउस के डीप फ्रीजर में सुरक्षित रखवाया और कोरोना की जांच के लिए नमूना अलीगढ़ भेजा गया। 


भोगांव : 33 लोगों को क्वारंटीन हाउस में रखा
सोमवार की रात और मंगलवार को दिन में स्वास्थ्य विभाग ने विभिन्न क्षेत्रों से 33 लोगों को अलग-अलग क्वारंटीन हाउस में रखा है। इन लोगों के नमूने जांच के लिए मेडिकल कॉलेज सैफई भेजे जा रहे हैं। ये वे लोग हैं जिनके परिजनों ने 22 मार्च से छह अप्रैल तक आगरा के पारस हॉस्पिटल में उपचार लिया है।
आगरा से आए दो कोरोना संक्रमित वापस भेजे
चिकित्साधीक्षक अमित भारती ने बताया कि आगरा से आए दो कोरोना संक्रमित मरीजों को द्वितीय जांच के लिए वापस आगरा भेजा गया है।उपजिलाधिकारी सुधीर कुमार ने बताया कि पारस अस्पताल से आने वालों की लिस्ट उन्हें प्राप्त हो गई है। लिस्ट के अनुसार लोगों की तलाश की जा रही है। 


मुख्यमंत्री को भेजी शिकायत, यहां झोलाछापों को कमीशन देकर लाए जाते हैं मरीज
पंजाबी सभा महानगर आगरा के अध्यक्ष सर्व प्रकाश कपूर ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र भेजकर पारस अस्पताल की जांच कराए जाने की मांग की है। उनका कहना है कि देहात के झोलाछापों को कमीशन देकर यहां मरीज लाए जाते हैं। इसके लिए झोलाछापों को गाड़ियां दे रखी हैं। अस्पताल के बाहर जो दवा की दुकान है, उसकी भी जांच कराकर मालूम किया जाए कि वह सिंचाई विभाग की जमीन पर तो नहीं है। अस्पताल के पास आगरा विकास प्राधिकरण की एनओसी है या नहीं। कपूर ने डीएम और एसएसपी को भी पत्र भेजा है।


बांद्रा मामले नें केजरीवाल की नींद उड़ाई

नई दिल्ली। मुंबई के बांद्रा रेलवे टर्मिनस पर मंगलवार की शाम की घटना के बाद दिल्ली सरकार भी सचेत हो गई। मार्च में लॉकडाउन की घोषणा के बाद से दिल्ली के आनंद विहार इलाके में भी मजदूरों के पलायन की तस्वीर देखी गई थी और अब मुंबई में लोगों की भीड़ को देखते हुए दिल्ली सरकार ने राजधानी में भी सक्रियता तेज कर दी है।


मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने वीडियो संदेश जारी किया है। उन्होंने अपने वीडियो संदेश में कहा है कि दिल्ली सरकार भी केंद्र के दिशा-निर्देशों का पालन करेगी। मुख्यमंत्री ने वीडियो संदेश में कहा ‘अगर लॉकडाउन का पालन नहीं किए, तो हमारी 21 दिन की तपस्या बेकार चली जाएगी, इसलिए सभी लोग घर में ही रहिए। इतना नहीं अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली के लोगों से ये भी गुहार लगाई कि ऐसे माहौल में किसी अफवाह पर विश्वास ना करें. केजरीवाल ने कहा, ‘कुछ लोग अफवाह फैलाने की कोशिश करेंगे, उन पर यकीन मत कीजिएगा, दिल्ली सरकार आपकी हर जरूरत पूरी करेगी। लॉकडाउन का पूरी तरह से पालन करिए। दूसरे राज्यों से आकर दिल्ली में बसे लोगों से अपील करते हुए सीएम केजरीवाल ने कहा, ‘मैं समझ सकता हूं कि आप लोग बहुत तकलीफ से गुजर रहे हैं। मैं समझ सकता हूं कि बहुत सारे लोगों को बहुत सारी तकलीफों का सामना करना पड़ रहा है, लेकिन यह हमारे लिए जरूरी है। हमारे घर के, परिवार के लोगों की जिंदगी की बात है।


गौरतलब है कि राष्ट्रीय राजधानी में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या 1561 तक पहुंच चुकी है। 30 लोगों की अब तक इस वायरस की चपेट में आने से मौत हो चुकी है, जबकि 30 लोग पूरी तरह ठीक हो चुके हैं। बता दें कि देश में कोरोना के मरीजों की तादाद 10000 के पार पहुंच चुकी है।


महाराष्ट्रः 178 की मौत, 2684 संक्रमित

मुंबई। महाराष्ट्र में कोरोना वायरस के मामलों की संख्या 2600 को पार कर गई है। राज्य में पिछले 24 घंटे में कोरोना के 350 केस सामने आए, जिसके बाद यहां पर मरीजों की संख्या 2684 हो गई है। बीते 24 घंटे में महाराष्ट्र में 18 लोगों की मौत कोरोना से हुई। सूबे में अब तक कुल 178 लोगों की जान कोरोना के कारण जा चुकी है। इससे पहले सोमवार को महाराष्ट्र में कोरोना वायरस के 352 नए केस सामने आए थे।


महाराष्ट्र में कोरोना से सबसे ज्यादा प्रभावित शहर मुंबई के लिए भी बीते 24 घंटे कोई राहत लेकर नहीं आए। यहां पर 24 घंटे में कोरोना के 112 केस सामने आए और 11 लोगों की मौत हुई। मुंबई में कोरोना के कुल 1756 केस हैं.वहीं, देश में कोरोना संक्रमितों की संख्या 10,815 पहुंच गई है। जबकि 353 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं।


उधर, महाराष्ट्र में बढ़ते मामलों को लेकर सीएम उद्धव ठाकरे ने मंगलवार को राज्य को संबोधित किया। उद्धव ठाकरे ने कहा कि जैसा कि मैंने पहले ही कहा कि महाराष्ट्र कोरोना के खिलाफ लड़ाई में देश को रास्ता दिखाएगा। हमारे यहां 10 जिले हैं जहां कोरोना पॉजिटिव के एक भी केस नहीं हैं। हम इसे बनाए रखेंगे और हम कोशिश करेंगे कि सभी जिले जल्द से जल्द कोरोना मुक्त हों।उन्होंने बताया कि मुंबई और पुणे हॉटस्पॉट हैं और हम इन स्थानों पर अपने परीक्षण केंद्र बढ़ा रहे हैं। हमारा ध्यान टेस्टिंग और सैंपलिंग पर है। महाराष्ट्र शायद सबसे ज्यादा परीक्षण कर रहा है। मुंबई ने 22000 से अधिक सैंपल का टेस्ट किया है। 2334 सकारात्मक मामले आज सुबह तक सामने आए। 230 लोग अब तक ठीक हो चुके हैं।


गुजरात के सीएम को किया क्वॉरेंटाइन

गांधीनगर। गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपाणी का कोरोना टेस्ट हो गया है। गुजरात सरकार का कहना है कि सीएम रुपाणी की तबीयत सही है और वह पूरी तरह नॉर्मल हैं, लेकिन उन्होंने होम क्वारनटीन होने का फैसला किया है। अब सीएम अपने घर से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए कामकाज देखेंगे।


दरअसल, सीएम विजय रुपाणी और डिप्टी सीएम नितिन पटेल के साथ कांग्रेस के विधायक इमरान खेड़ावाला की बैठक हुई थी। कल ही इमरान खेड़ावाला कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। इसके बाद आज सीएम विजय रुपाणी का कोरोना टेस्ट किया गया। सीएम और डिप्टी सीएम दोनों को एहतियात बरतने के लिए कहा गया है।


अमेरिका में प्रतिदिन 1500 से ज्यादा मौत

वाशिंगटन। दुनियाभर में कोविड-19 महामारी से अब तक 19,34,976 लोग संक्रमित हो चुके हैं जबकि कुल 1,20,013 लोगों की विश्व में मौत हो चुकी है। कई देशों में लॉकडाउन है जबकि अमेरिका में जॉन्स हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी की ताजा रिपोर्ट के अनुसार, पिछले 24 घंटों में 2,228 लोगों की कोरोना वायरस के कारण मौत हो गई है।
हालांकि इससे पहले अमेरिका में 24 घंटे में 1,535 लोग मारे जाने की खबर आई थी। इसके बावजूद राष्ट्रपति ट्रंप देश के बाजारों को खोलने की योजना के बेहद करीब हैं। फिलहाल यहां सामाजिक दूरी के निर्देश 30 अप्रैल तक लागू हैं।


ट्रंप ने खुद एक बयान जारी कर कहा कि वे देश में अघोषित रूप से लागू लॉकडाउन हटाने की योजना के बहुत करीब हैं। उधर, न्यूयॉर्क के गवर्नर एंड्रयू क्यूमो ने भी घोषणा की है कि राज्य में कोरोना वायरस महामारी का सबसे बुरा दौर अब खत्म हो गया है। उन्होंने भी कहा कि वह धीरे-धीरे अर्थव्यवस्था को दोबारा खोलने की योजना पर काम कर रहे हैं। अमेरिका में जारी सामाजिक दूरी के दिशा-निर्देशों के तहत लोगों को घरों में ही रहने की हिदायतें हैं। जॉन्स हॉपकिंस यूनिवर्सिटी की तालिका के मुताबिक, देश में कोविड-19 से अब तक 23,628 लोगों की मौतें हो चुकी हैं जबकि अकेले न्यूयॉर्क में 10 हजार से ज्यादा मौतें हो चुकी हैं। यहां अभी भी 1.95 लाख लोग संक्रमित हैं। लेकिन ट्रंप ने कहा कि वह जल्द ही नए दिशा-निर्देश तैयार कर राज्यों के गवर्नरों को देंगे ताकि सुरक्षित ढंग से लॉकडाउन हटाया जा सके।


टास्क फोर्स के एलान की योजना
अमेरिका की 33 करोड़ की आबादी में से 95 फीसदी से ज्यादा लोग फिलहाल घरों में बंद हैं। इस बीच, ट्रंप ने कहा है कि हम अपने देश को दोबारा खोलकर सामान्य जीवन चाहते हैं। जल्द ही हमारे देश को खोल दिया जाएगा ताकि लोग सामान्य जिंदगी में लौट सकें। ट्रंप की योजना विभिन्न सेक्टरों के प्रख्यात लोगों से मिलकर दूसरे टास्क फोर्स की घोषणा करने की है, जो उन्हें देश की अर्थव्यवस्था को खोलने में मदद देगी। बता दें कि देश में तेजी से बढ़ता पर्यटन और यात्रा उद्योग बंद हो गया है, लाखों लोगों की रिकॉर्ड संख्या ने अपनी नौकरी खो दी है।


धार्मिक आयोजनों पर ना लगे प्रतिबंध

इस्लामाबाद। पाकिस्तान में 50 से अधिक वरिष्ठ मौलवियों के एक समूह ने कोरोना वायरस प्रकोप के बीच धार्मिक आयोजनों पर प्रतिबंध को लेकर सरकार को चेतावनी दी है। मौलवियों का कहना है कि अधिकारियों को भी धार्मिक मानदंडों का पालन करना चाहिए। कोरोना वायरस महामारी के प्रसार को रोकने के लिए पाकिस्तान में धार्मिक आयोजनों पर पाबंदी है।

देश में 5,715 लोग कोरोना से संक्रमित हैं। डॉन की रिपोर्ट के मुताबिक, सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन करने के लिए सरकार द्वारा किए गए निवेदन के बावजूद रावलपिंडी व इस्लामाबाद के 50 से अधिक मौलवियों ने सोमवार को जामिया दारुल उलूम जाकरिया में मुलाकात कर इस विषय पर चर्चा की है। इनका मानना है कि मस्जिदों में अल्लाह से माफी मांगने के लिए लोगों को इजाजत मिलनी चाहिए।


स्क्रीनिंग में स्मार्ट हेलमेट का उपयोग

दुबई। दुबई पुलिस कोरोना वायरस की स्क्रीनिंग के लिए स्मार्ट हेलमेट का उपयोग कर रही है। सार्वजनिक परिवहन का इस्तेमाल करने वाले लोगों की इससे जांच की जा रही है। यह हेलमेट इन्फ्रा-कैमरा और अन्य आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस तकनीकों से लैस है।

खलीज टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक, टेम्परेचर डिटेक्टर से लैस हेलमेट लोगों के तापमान को स्कैन करने में कुछ सेकंड का समय लेते हैं। हेलमेट को फेस रिकग्निशन तकनीक और कार नंबर रीडिंग तकनीक से भी लैस किया गया है। यूएई में कोरोना वायरस से अब तक 25 लोगों की मौत हो चुकी है। जबकि 4521 लोग पॉजीटिव पाए गए हैं।


बांद्रा में मजदूर इकट्ठे करने वाला अरेस्ट

मुंबई। लॉकडाउन के बीच बांद्रा रेलवे स्टेशन पर प्रवासी मजदूरों की भारी भीड़ इकट्ठा होने के मामले में पुलिस ने विनय दुबे नाम के शख्स को हिरासत में ले लिया है। विनय दुबे को नवी मुंबई पुलिस ने हिरासत में लिया और उसे मुंबई पुलिस को सौंप दिया। विनय दुबे पर लॉकडाउन के बीच भीड़ को गुमराह करने का आरोप है। विनय दुबे ‘चलो घर की ओर’ कैंपेन चला रहा था। अपने फेसबुक पर शेयर किए गए पोस्ट में उसने टीम के बांद्रा में होने की बात कही थी। इस मामले में पुलिस ने एक हजार लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है। दुबे के खिलाफ आईपीसी की धारा 117, 153 ए, 188, 269, 270, 505(2) और एपिडेमिक एक्ट की धारा 3 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है।


गौर हो कि मंगलवार को मुंबई के बांद्रा रेलवे स्टेशन पर प्रवासी मजदूरों की भारी भीड़ इकट्ठा हो गई थी। ये सभी मजदूर घर जाने के लिए स्टेशन पहुंचे थे। मजदूरों को उम्मीद थी कि लॉकडाउन खत्म हो जाएगा। उन्हें हटाने के लिए पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा था।


कौशल विकास कार्यक्रम की लेंगे मदद

नई दिल्ली। देश में कोरोना महामारी से निपटने के लिए केंद्र सरकार ने कौशल विकास कार्यक्रम के तहत प्रशिक्षित किए गए स्वास्थ्य पेशेवरों की मदद लेने का निर्णय लिया है। इसके लिए केंद्रीय कौशल विकास व उद्यमिता मंत्रालय (एमएसडीई) ने करीब 1.75 लाख प्रशिक्षित स्वास्थ्य पेशेवरों का ब्योरा सभी राज्यों के मुख्य सचिवों को उपलब्ध कराया है। एमएसडीई के तहत काम करने वाले राष्ट्रीय कौशल विकास निगम (एनएसडीसी) ने इसके लिए हर राज्य के लिए एक नोडल अधिकारी नियुक्त किया है। राज्य प्रशासन की तरफ से मांग आने पर इस नोडल अधिकारी को ही आवश्यकता के हिसाब से इन स्वास्थ्य पेशेवरों को उपलब्ध कराने की जिम्मेदारी निभानी होगी।


मंत्रालय के मुताबिक, इन पेशेवरों को स्वास्थ्य कार्यकर्ता, आपातकालीन चिकित्सा तकनीशियन, सामान्य ड्यूटी असिस्टेंट, फ्लबॉटमी तकनीशियन, घरेलू स्वास्थ्य सहायक तकनीशियन आदि का प्रशिक्षण दिया गया है और इनका उपयोग राज्य आइसोलेशन सेंटरों से लेकर क्वारंटीन सेंटरों तक पर कर सकते हैं। मंत्रालय के मुताबिक, उनके 17 राज्यों के 99 जिलों में मौजूद 101 जन शिक्षण संस्थानों ने लॉकडाउन के दौरान अभी तक 5 लाख से ज्यादा मास्क बनाकर स्थानीय प्रशासन को उपलब्ध कराए हैं।


राष्ट्रीय कौशल प्रशिक्षण संस्थानों में बनेंगे क्वारंटीन सेंटर
एमएसडीई ने सभी राज्यों को अपने 33 राष्ट्रीय कौशल प्रशिक्षण संस्थानों (एनएसटीआई) का उपयोग क्वारंटीन सेंटर या आइसोलेश्न वार्ड के तौर पर करने की भी अनुमति दी है। हरियाण के पानीपत, पंजाब के लुधियाना, उत्तराखंड के देहरादून, केरल के तिरुवनंतपुरम व कालीकट (कोझिकोड) में एनएसटीआई को आइसोलेशन वार्ड में बदल भी दिया गया है। चेन्नई में भी एनएसडीसी के एक हॉस्टल में आइसोलेशन वार्ड बनाया गया


पुलिस कार्रवाई पर संदेह, जांच की मांग

कार्तिकेय राणा की गिरफ्तारी गलत, मनन करे पुलिस अधिकारी


विधायक संजय गर्ग और पूर्व विधायक शशिबाला पुंडीर गरजे


सीओ से जांच कराने की मांग का भी अधिकारी लें संज्ञान


सहारनपुर। नगर विधायक संजय गर्ग एवं पूर्व विधायक श्रीमती शशिबाला पुंडीर ने कहा कार्तिकेय राणा की गिरफ्तारी गलत है उनके घर के सामने कोई सोशल डिस्टेंसिंग को नहीं तोड़ा गया था पुलिस किसी से दुर्व्यवहार कर रही थी यह अपनी बालकनी में खड़े थे जिस से ऊपर से उन्होंने पुलिस को कहा था कि क्यों इस से बदतमीजी कर रहे हैं मत करिए ,इन्हें बुरा भला कहना शुरू कर दिया तभी वे नीचे गए थे।अगर किसी भी जनप्रतिनिधि के घर के सामने पुलिस किसी से दुर्व्यवहार करेगी ,स्वाभाविक रूप से वह नीचे उतर कर जाएगा।जब इन से ही कहा- सुनी पुलिस करने लगी तब अड़ोस-पड़ोस के लोग आ गए थे,आवाज सुनकर और फैसला हो गया था।यह अपने घर चले ऊपर चले गए थे।पुलिस चली गई थी,लेकिन कुछ भाजपाइयों के कहने से बदले की भावना से कार्रवाई की गई है हम एसएसपी व डीआईजी साहब  को स्पष्ट तौर से कह देना चाहते हैं पुलिस की वर्किंग का भी मनन करें। यह सच्चाई है इस आपदा के समय पुलिस बहुत व्यस्त है। लेकिन व्यस्तता के साथ-साथ होश नहीं खोना चाहिए इस समय में सरकार को खुश करने के लिए अति उत्साह में अधिकारी लोग समाजवादी पार्टी के लोगों को निशाना बना रहे हैं। विधायक संजय गर्ग ने वरिष्ठ अधिकारियों से मांग किया इस प्रकरण की जांच किसी सीओ से कराई जाए और जो मनगढ़ंत धाराएं लगाई गई है उन्हें हटाया जाए।


अरविन्द नैब पत्रकार


दारू पार्टी करने वाले पर मामला दर्ज

हैदराबाद। तेलंगाना पुलिस ने कोविड-19 लॉकडाउन मानदंडों का उल्लंघन करते हुए कथित रूप से शराब पार्टी करने के आरोप में चार सरकारी अधिकारियों के खिलाफ मामला दर्ज किया है। खम्मम जिले के मढ़ीरा कस्बे में ब्लॉक स्तर के अधिकारियों ने सोमवार रात एक गेस्ट हाउस में पार्टी का आयोजन किया था। पुलिस ने एक गुप्त सूचना के आधार पर कार्रवाई करते हुए उस जगह पर छापा मारा, जहां एक प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के एक डॉक्टर श्रीनिवास एक कमरे में छिपे हुए मिले, जबकि तीन अन्य भागने में सफल रहे। पुलिस ने गेस्ट हाउस से शराब की आधी बोतल और खाद्य सामग्री जब्त की।


पुलिस ने जांच शुरू की और मंगलवार को चार अधिकारियों के खिलाफ मामला दर्ज किया। तहसीलदार सैदुलू, उप-जेलर प्रभाकर रेड्डी और पंचायत राज एवं ग्रामीण विकास अधिकारी राजा राव के अलावा डॉक्टर श्रीनिवास पर भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की कई धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है। पुलिस ने कहा कि इस पार्टी में अगर और अधिकारी भी शामिल रहे होंगे तो उन पर भी कार्रवाई की जाएगी। तेलंगाना में 24 मार्च को लॉकडाउन शुरू होने के बाद से ही सभी शराब की दुकानें, पब और बार बंद हैं।


सीमा पर गोलाबारी, 2 नागरिक घायल

शिमला। जम्मू एवं कश्मीर के राजौरी में बुधवार को नियंत्रण रेखा पर पाकिस्तान की ओर से हुई गोलीबारी में दो नागरिक घायल हो गए हैं। पुलिस के सूत्रों ने कहा कि पाकिस्तान ने राजौरी जिले के मंजाकोट सेक्टर में नियंत्रण रेखा पर अकारण अंधाधुंध गोलीबारी और बमबारी की। पुलिस ने कहा, “उन्होंने मंजाकोट सेक्टर में सेना और नागरिकों के इलाके में गोलीबारी कर मोर्टार दागे। इस गोलाबारी में एक लड़की सहित दो नागरिक घायल हुए हैं, जबकि तीन घरों को नुकसान पहुंचा है।” पुलिस ने कहा कि घायलों को उपचार क लिए अस्पताल भेजा गया है। खबरें है कि दोनों पक्षों के बीच गोलीबारी का सिलसिला जारी है और भारतीय चौकियों से कड़ी जवाबी कार्रवाई की जा रही है।


 


पैदल चलने वाले क्यों झेले महामारी

पटना। कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए बढ़ाए गए लॉकडाउन के बाद दिहाड़ी मजदूरों और गरीबों की समस्याओं को लेकर बिहार विधानसभा में विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने सरकार पर सवाल उठाए हैं। उन्होंने बुधवार को कहा कि यह बीमारी लेकर आए हवाई जहाज वाले और भुगतना पड़ रहा है पैदल चलने वालों को।


राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के नेता तेजस्वी ने बुधवार को गरीबों की मदद के लिए आगे नहीं आने वालों पर निशाना साधा।उन्होंने ट्वीट किया, ” यह बीमारी लेकर आए हवाई जहाज वाले और भुगते पैदल चलने वाले, कोरोना लेकर आए पासपोर्ट वाले और कीमत अदा करे बीपीएल राशनकार्ड वाले। अमीरों की शानो-शौकत और बीमारी का हर्जाना बेचारे करोड़ों गरीब लोग भुगत रहे हैं। गरीबों की मदद के लिए क्यों नहीं वो अब आगे आ रहे है?”तेजस्वी ने सरकार द्वारा दी जा रही सहायता को कम बताते हुए एक अन्य ट्वीट में लिखा, “सरकारें सोचतीं है कि वो गरीबों के खाते में महज 500 रुपये डालकर और उन्हें मुट्ठीभर दाल-चावल का लालच देकर बहला लेंगी। मैं सरकारों से प्रार्थना कर रहा हूं कि कोरोना से कोई मरे ना मरे लेकिन करोड़ों गरीब लोगों को घर भेज, महीनों के राशन का इंतजाम करे अन्यथा वो भूख से जरूर मर जाएंगे।”


केंद्र सरकार ने जारी की गाइडलाइन

मनोज सिंह ठाकुर


नई दिल्ली। लॉकडाउन के दूसरे चरण की घोषणा के बाद आज केन्द्र सरकार ने देश के सभी राज्यों के लिए विस्तृत गाइडलाइन जारी कर दी है। इस गाइड लाइन में कई बिंदुओं पर छूट दी गई है तो वहीं अधिकांश बिंदुओं पर प्रतिबंध जारी रखा गया है। 20 अपै्रल तक देश के सभी राज्यों, जिलों और थाना स्तर की विस्तृत अध्ययन के बाद केन्द्र सरकार कुछ और छूट दे सकती है। 


गृह मंत्रालय की ओर से सभी राज्यों के मुख्य सचिवों और प्रशासनिक अधिकारियों को भेजे गए विस्तृत गाइडलाइन में कहा गया है कि कृषि से जुड़े कामों के लिए रियायत दी जाएगी। मनरेगा के तहत काम होगा। वहीं, औद्योगिक गतिविधियों पर रोक जारी रहेगी। सभी तरह के परिवहन सेवाओं पर रोक रहेगी। सावर्जनिक स्थानों पर मास्क पहनना अनिवार्य होगा।
इन बिंदुओं पर प्रतिबंध रहेगा जारी : 
सभी डोमेस्टिक या इंटरनेशनल फ्लाइट, ट्रेन (पैसेंजर की आवाजाही के लिए), सभी एजुकेशनल-ट्रेनिंग-कोचिंग सेंटर, इंडस्ट्रियल व कॉमर्शियल गतिविधि, होटल, टैक्सी, ऑटो रिक्शा, साईकिल रिक्शा, सिनेमा हॉल, शॉपिंग कॉम्प्लेक्स, जिम, स्पोट्र्स कॉम्प्लेक्स, स्वीमिंग पूल, बार, थियेटर, कोई भी इवेंट, सभी धार्मिक स्थान बंद रहेंगे। इसके अलावा किसी भी अंतिम संस्कार में 20 से अधिक लोगों को शामिल होने की इजाजत नहीं दी जाएगी।
इन्हें मिली रियायत : आवश्यक सामानों और दवाईयों का उत्पादन जारी रहेगा। स्श्र्वं के तहत उत्पादन जारी रहेगा। इसके अलावा कुछ शर्तों के साथ ट्रकों को आवाजाही की इजाजत दी गई है। ग्रामीण इलाकों में औद्योगिक गतिविधियां जारी रहेंगी। केबल टीवी, डीटीएच, टेलिफोन समेत आवश्यक सेवाएं जारी रहेंगी। बिजली मैकेनिक, कॉरपेंटर को इजाजत दी गई है।
कृषि से जुड़े कामों में रियायर्त: केंद्र सरकार ने किसानों को राहत देते हुए कृषि से जुड़े कामों को इजाजत दे दी है। किसानों को अपनी फसल काटने और बुवाई करने की छूट दी गई है। साथ ही एजेंसियों को किसानों की उपज खरीदने की इजाजत दी गई है। मछली पालन से जुड़ी गतिविधियों को इजाजत दी गई है।
घर से निकलने पर मास्क जरूरी: नई गाईडलाइन्स में कहा गया है कि ये सभी गतिविधियां राज्य/ केंद्रशासित प्रदेशों द्वारा अनुमति देने के बाद शुरू होंगी हालांकि इससे पहले सोशल डिस्टेंसिंग के उपाय भी किये जाएं। निर्देश में कहा है कि सभी सार्वजनिक स्थानों, कार्यस्थलों पर फेस कवर पहनना अनिवार्य है। वहीं सार्वजनिक स्थानों पर थूकना दंडनीय होगा और इसके लिए भारी जुर्माना लगाया जा सकता है। 
शैक्षणिक संस्थानें 3 तक बंद : दिशानिर्देश में कहा गया है कि सिनेमा हॉल, मॉल, शॉपिंग कॉम्प्लेक्स, व्यायामशाला, स्पोट्र्स कॉम्प्लेक्स, स्विमिंग पूल और बार 3 मई तक बंद रहेंगे। इसके साथ ही शैक्षिक संस्थान, कोचिंग सेंटर, घरेलू, अंतरराष्ट्रीय हवाई यात्रा, ट्रेन सेवाएं तीन मई तक स्थगित रहेंगी। बताया गया है कि एक राज्य से दूसरे राज्य और जिले से दूसरे जिले तक लोगों की आवाजाही, मेट्रो, बस सेवाओं को 3 मई तक प्रतिबंधित किया गया है। गृह मंत्रालय ने कहा कि सभी सामाजिक, राजनीतिक, खेल, धार्मिक कार्य, धार्मिक स्थल, पूजा स्थल 3 मई तक जनता के लिए बंद रहेंगे।
मनरेगा और कंस्ट्रक्शन वर्क को इजाजत: केंद्र ने मनरेगा के तहत कार्यों को जारी रखने का निर्देश दिया है। सोशल डिस्टेनसिंग बनाए रखने की अपील की गई है। इसके साथ राज्य सरकार की ओर किए जा रहे कंट्रक्शन वर्क में भी रियायत दी गई है।
हॉटस्पॉट क्षेत्रों में कोई छूट नहीं : कोरोना के हॉटस्पॉट एरिया में कोई रियायत नहीं दी जाएगी। इन इलाकों में स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से जारी गाइडलाइन का पालन किया जाएगा. साथ ही किसी को भी बाहर निकलने की इजाजत नहीं होगी। आवश्यक सामानों की होम डिलिवरी होगी। एरिया की सुरक्षा में लगे जवान और मेडिकल स्टाफ का ही मूवमेंट होगा।
20 अप्रैल के बाद सशर्त मिल सकती है छूट :जिन इलाकों में कोरोना के मामले नहीं आएंगे, उन्हें रियायत मिल सकती है. इसकी समीक्षा 20 अप्रैल तक की जाएगी. इस समीक्षा के बाद कुछ इलाकों में मामूली रियायत दी जाएगी। रियायत देने से पहले राज्य सरकार और जिला प्रशासन की ओर से गाइडलाइन के पालन के सारे उपाय किए जाएंगे, ताकि ऑफि स, वर्कप्लेस, फैक्ट्री या संस्थानों में सोशल डिस्टेनसिंग का पालन हो।


चमगादड़ों में मिला कोरोना वायरस

नई दिल्ली। दुनियाभर में हाहाकार मचाने वाले कोरोना वायरस के बारे में ऐसे कयास लगाए गए थे कि ये चमगादड़ों से इंसानों में पहुंचा है। अब इस बात की पुष्टि भी हो गई है। इस बात का खुलासा भारतीय वैज्ञानिकों ने किया है। वैज्ञानिकों का कहना है कि देश के 10 में से 5 राज्यों के चमगादड़ों में कोरोना वायरस पाया गया है।वैज्ञानिकों ने इसके लिए चमगादड़ों की दो प्रजातियों पर अध्ययन किया है। उसके बाद इस बात का खुलासा हुआ कि कोरोना वायरस चमगादड़ों से ही फैला है। हालांकि वह दुनिया में अभी फैला नोबल कोरोना वायरस नहीं है। भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) का कहना है, पुणे की नेशनल इंस्टीच्यूट ऑफ वॉयरोलॉजी (एनआईवी) लैब में 3 साल से चमगादड़ों पर अध्ययन चल रहा था। इसी बीच, वैज्ञानिकों ने कोरोना वायरस को लेकर भी चमगादड़ों के नमूनों की जांच शुरू की। इनमें से दो की आंत और गुर्दा भी संक्रमित मिले। कुछ ही समय पहले केरल में निपाह वायरस भी चमगादड़ों से आया था। इसीलिए नए संक्रमण का पता लगाने के लिए उन राज्यों में लगातार सर्विलांस जरूरी है, जहां चमगादड़ ज्यादा पाए जाते हैं। चमगादड़ों की एक प्रजाति के लिए केरल, चंडीगढ़, कर्नाटक, हिमाचल प्रदेश, पंजाब, गुजरात, ओडिशा, पुड्डुचेरी, तमिलनाडु और तेलंगाना से 508 नमूने लिए गए। दूसरी प्रजाति के 78 चमगादड़ों के नमूने केरल, कर्नाटक, चंडीगढ़, गुजरात, ओडिशा, पंजाब और तेलंगाना से लिए गए। इस दौरान 12 की मौत हो गई थी। वैज्ञानिक डॉ. आर बाला सुब्रह्मण्यम का कहना है कि केरल के चमगादड़ों को अध्ययन में शामिल किया गया था। पुणे में इनकी टेस्टिंग के बाद कोरोना वायरस की पुष्टि हुई.कुछ समय पहले निपाह वायरस भी चमगादड़ों से ही आया था। पुणे स्थित नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ वॉयरोलॉजी की निदेशक डॉ. प्रिया अब्राहम के अनुसार हमारे अध्ययन में शामिल चमगादड़ों में से कुछ में कोरोना वायरस मिला है। हालांकि यह इंसानों तक कैसे पहुंचा? इस पर फिलहाल एक विस्तृत अध्ययन की आवश्यकता है।


जैश के कई आतंकी कोरोना संक्रमित

नई दिल्ली। चीन से दुनियाभर में फैले कोरोना वायरस के संक्रमण का असर अब तेजी से बढ़ने लगा है। खुफिया जानकारी के मुताबिक जैश के कई आतंकी कोरोना वायरस के संक्रमण का शिकार हो चुके हैं। इन आ​तंकियों ने पाकिस्तान सरकार से इलाज के लिए मदद भी मांगी है, लेकिन पाकिस्तान में उनका इलाज नहीं किया जा रहा है। यही कारण है कि कश्मीर से पाकिस्तान गए कई आतंकी एक बार फिर कश्मीर लौटने के फिराक में हैं। जानकारी के मुताबिक, लाहौर में रह रहे आतंकी शाहिद ने अनंतनाग में रह रहे अपने परिवार के लोगों को फोनकर बताया है कि वह खुद कोरोना वायरस के संक्रमण का शिकार हो चुका है। पिता के साथ बात करते हुए शाहिद ने यह भी कहा कि उसकी तबीयत इतनी बिगड़ चुकी है कि शायद यह उसका आखिरी कॉल होगा। उसने बताया कि उसके साथ के कई लड़कों को कोरोना हो चुका है और सभी की हालत दिनों दिन बिगड़ती जा रही है। शाहिद ने बताया कि कोरोना का इलाज कराने के लिए उन लोगों ने सरकार के कई अधिकारियों को संदेश भी भेजवाया था, लेकिन पाकिस्तान सरकार ने इस संबंध में कोई कार्रवाई नहीं की। जैश के आतंकी ने बताया कि उसके साथी काफी डरे हुए हैं और किसी भी तरह कश्मीर में दाखिल होने की फिराक में हैं।


लॉक डाउन तोड़ने पर कड़ा प्रावधान

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री मोदी की लॉकडाउन के दूसरे चरण की घोषणा के ठीक 24 घंटे बाद केंद्र सरकार ने बुधवार को लॉकडाउन की नई गाइडलाइन जारी कर दी है। इसमें 3 मई तक 19 दिन बढ़ाए गए लॉकडाउन को तोड़ने पर सख्त कार्रवाई के निर्देश हैं। इनमें आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 के अनुसार दंड और जुर्माने का प्रावधान किया गया है। इसमें स्पष्ट किया गया है कि सार्वजनिक स्थानों और काम करने की जगह पर मास्क पहनना अनिवार्य होगा।


पब्लिक प्लेस पर थूकने पर सजा और जुर्माना देना होगा। गाइडलाइन में कानून तोड़ने वालों और अन्य लोगों के लिए जान-माल का खतरा पैदा करने की स्थिति में आपदा प्रबंधन अधिनियम की धारा 9 धाराओं के अनुसार एक्शन होगा। सरकारी कर्मचारियों पर आदेश न मानने की स्थिति में आईपीसी की धारा 188 के अनुसार कार्रवाई की जाएगी।


आपदा प्रबंधन कानून के तहत लगने वाला दंड और जुर्माना


धारा 51 के तहत : कर्मचारियों के काम में बाधा डालने आदि के लिए


यदि कोई व्यक्ति किसी सरकारी कर्मचारी को उनके कर्तव्यों को पूरा करने से रोकता या बाधा डालता है, या केंद्र/राज्य सरकारों या सक्षम एजेंसी द्वारा जारी किए गए निर्देशों का पालन करने से इनकार करता है तो उसे इस धारा के तहत सजा दी जा जाएगी।


उदाहरण के लिए, इस धारा के तहत, दिशानिर्देशों का कोई भी उल्लंघन, जिसमें पूजास्थल पर जाना, सामाजिक कार्यक्रम का आयोजन करना आदि शामिल हैं, सभी को इस धारा के तहत अपराध माना जाएगा। इस धारा के तहत, 1 साल तक की कैद और जुर्माना लगाया जा सकता है। हालांकि, यदि दोषी व्यक्ति के किसी काम से जानमाल का नुकसान होता है, तो 2 साल तक की कैद और जुर्माना हो सकता है।


धारा 53 के तहत : धन/सामग्री का दुरुपयोग करने आदि के लिए


यदि कोई व्यक्ति राहत कार्यों/प्रयासों के लिए किसी भी पैसे या सामग्री का दुरुपयोग, अपने स्वयं के उपयोग के लिए करता है, या उन्हें ब्लैक में बेचता है तो वह इस धारा के अंतर्गत दोषी ठहराया जा सकता है। इस धारा के तहत 2 साल तक की सजा एवं जुर्माना हो सकता है।


धारा 54 के तहत: झूठी चेतावनी के लिए


यदि कोई व्यक्ति एक झूठा अलार्म या आपदा के बारे में चेतावनी देता है, या इसकी गंभीरता के बारे में झूठी चेतावनी देता है, जिससे घबराहट फैलती है तो इसके तहत एक वर्ष तक की सजा या जुर्माना हो सकता है।


धारा 55 के तहत: सरकारी विभागों के अपराध के लिए


इसके तहत यदि कोई अपराध सरकार के किसी विभाग द्वारा किया गया है तो वहां का विभाग प्रमुख दोषी माना जाएगा और जब तक कि वह यह साबित नहीं कर देता कि अपराध उसकी जानकारी के बिना किया गया था, अपने विरुद्ध कार्रवाई किए जाने और दंड का भागी होगा।


धारा 56 के तहत: अधिकारी के कर्त्तव्य पालन न करने पर


यदि कोई सरकारी अधिकारी, जिसे लॉकडाउन से संबंधित कुछ कर्तव्यों को करने का निर्देश दिया गया है, और वह उन्हें करने से मना कर देता है, या बिना अनुमति के अपने कर्तव्यों को पूरा करने से पीछे हट जाता है तो वह इस धारा के अंतर्गत दोषी ठहराया जा सकता है। इस धारा के तहत 1 साल तक की सजा या जुर्माना हो सकता है।


धारा 57 के तहत: अपेक्षित आदेश का उल्लंघन होने पर


यदि कोई व्यक्ति इस तरह के अपेक्षित आदेश (धारा 65 के अधीन) का पालन करने में विफल रहता है, तो वह इस धारा के अंतर्गत दोषी ठहराया जा सकता है। इस धारा के तहत 1 साल तक की सजा और जुर्माना अथवा दोनों हो सकता है।


अधिनियम की अन्य धाराएं (धारा 58, 59 और 60)


इस अधिनियम की धारा 58, कंपनियों के अपराध से सम्बंधित है। इसके अलावा, धारा 59 अभियोजन के लिए पूर्व मंजूरी (धारा 55 और धारा 56 के मामलों में) से सम्बंधित है, वहीं धारा 60 न्यायालयों द्वारा अपराधों के संज्ञान से सम्बंधित है।


सरकारी कर्मचारियों पर धारा 188 के अनुसार एक्शन


इस संबंध में किसी सरकारी कर्मचारी द्वारा दिए निर्देशों का उल्लंघन करने पर ये धारा लगाई जा सकती है। यहां तक कि किसी के ऊपर ये धारा लगाने व कानूनी कार्रवाई करने के लिए ये भी जरूरी नहीं कि उसके द्वारा नियम तोड़े जाने से किसी का नुकसान हुआ हो या नुकसान हो सकता हो।


सजा और जुर्मान के दो प्रावधान हैं


पहला – सरकार या किसी अधिकारी द्वारा दिए गए आदेशों का उल्लंघन करते हैं, या आपसे कानून व्यवस्था में लगे व्यक्ति को नुकसान पहुंचता है, तो कम से कम एक महीने की जेल या 200 रुपए जुर्माना या दोनों।


दूसरा – आपके द्वारा सरकार के आदेश का उल्लंघन किए जाने से मानव जीवन, स्वास्थ्य या सुरक्षा, आदि को खतरा होता है, तो कम से कम 6 महीने की जेल या 1000 रुपए जुर्माना या दोनों। दोनों ही स्थिति में जमानत मिल सकती है।


नाबालिक प्रेमी युगल ने की आत्महत्या

महासमुंद। छत्तीसगढ़ के महासमुंद जिले से एक दुखद खबर प्रकाश में आयी है। यहां नाबालिग प्रेमी जोड़े ने गांव के जंगल पेड़ पर फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली।
प्राप्त जानकारी के अनुसार दोनों एक ही गांव के रहने वाले थे, और मंगलवार दोपहर घर से खाना खाकर निकले थे। पुलिस सूत्रों ने बताया कि घटना बसना थाना अंतर्गत भंवरपुर चौकी क्षेत्र की है। घटना के पूरे इलाके के शोक का माहौल है। आज सुबह परिजनों की सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची, और मर्ग कायम कर मामले की तफ्तीश में जुटी है।


संक्रमितो का आंकड़ा 6 लाख के पार

अमेरिका। कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या का आंकड़ा छह लाख के पार चला गया है, जबकि महामारी के चलते अब तक 25 हजार से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है। जॉन्स हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी के सेंटर फॉर सिस्टम साइंस एंड इंजीनियरिंग (सीएएसई) ने इस बात की जानकारी दी।


समाचार एजेंसी सिन्हुआ ने सेंटर फॉर सिस्टम साइंस एंड इंजीनियरिंग की ओर से जारी किए नवीनतम आंकड़ों के हवाले से कहा, ‘देश में स्थानीय समयानुसार मंगलवार शाम 6.5० बजे (225०जीएमटी) तक कोविड-19 से संक्रमित लोगों की कुल संख्या 6,02,989 रही, जबकि महामारी के चलते 25,575 लोगों की मौत हो चुकी है।’आंकड़ों के अनुसार, कोरोनावायरस संक्रमण से अमेरिका के सबसे प्रभावित राज्य न्यूयॉर्क स्टेट में कुल 10,834 मौतों सहित अकेले 2,02,630 मामले सामने आए हैं। इसके बाद न्यूजर्सी 68,824 मामलों सहित कुल 2,805 मौतों के साथ दूसरे स्थान पर है।


वहीं, मैसाचुसेट्स, मिशिगन, पेंसिल्वेनिया, कैलिफोर्निया, इलिनोइस और लुइसियाना संक्रमण के 20 हजार से अधिक मामलों वाले अन्य राज्यों में शामिल हैं।


'संयुक्त राष्ट्र तंत्र' से जुड़े 180 संक्रमित

संयुक्त राष्ट्र। विश्व भर में संयुक्त राष्ट्र तंत्र से जुड़े 180 से अधिक लोगों में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई है। वहीं तीन लोगों की मौत हो चुकी है। संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुतारेस के प्रवक्ता ने जानकारी दी। दुनिया भर में कोरोना के 19.2 लाख मामले हैं और 1,19,687 लोगों की मौत हुई है। दुनिया में संक्रमितों की सबसे अधिक 5,82,607 संख्या अमेरिका में है। वहां करीब 23,000 लोगों की कोविड-19 से मौत हुई है।
बेटे के एक फोन पर 82 साल की बुजुर्ग मां तक पहुंची मदद 
महासचिव के उपप्रवक्ता फरहान हक ने कहा, रविवार शाम तक, दुनिया भर में संयुक्त राष्ट्र के 189 कर्मियों में संक्रमण की पुष्टि हुई है और इसमें वैश्विक महामारी (Epidemic) शुरू होने के बाद से संयुक्त राष्ट्र तंत्र में हुई तीन मौत भी शामिल है। प्रवक्ता ने मामलों का देशवार ब्यौरा उपलब्ध नहीं कराया।


सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

सावधानी बरते, सतर्क रहें।


अभियान, सैकड़ों अरब डॉलर की परियोजनाएं: मंजूर

वाशिंगटन डीसी। दुनिया के सबसे संपन्न सात देशों (जी 7) के शिखर सम्मेलन में शनिवार को चीन मुख्य मुद्दा रहा। चीन की विस्तारवादी नीतियों के खिला...