रविवार, 26 जून 2022

फाउंडर मैनेजिंग डायरेक्टर द्वारा ख्वाजा ग्रुप का उद्घाटन

फाउंडर मैनेजिंग डायरेक्टर द्वारा ख्वाजा ग्रुप का उद्घाटन 

अनीस अंसारी/संदीप मिश्र        
लखनऊ। ख्वाजा ग्रुप का ब्रांच ऑफिस F-1048 राजाजीपुरम (लखनऊ) में 26 जून, 2022 को दोपहर 12:00 बजे ललित प्रकाश पांडे के निवास स्थान F-1048 निकट एसकेडी इंटर कॉलेज सब्जी मंडी में ख्वाजा ग्रुप के फाउंडर मैनेजिंग डायरेक्टर मिस्टर नावेद अहमद द्वारा उद्घाटन किया गया। सभी लोगों ने ब्रांच ऑफिस खुलने की मिस्टर नावेद अहमद को बहुत-बहुत बधाइयां दी, एवं किस्तों वाले प्लांट के फॉर्म भरे गए। काफी लोगों ने ख्वाजा डेवलपर्स के नियमों की सराहना की।
राजाजीपुरम ख्वाजा ग्रुप का ऑफिस खुलने से वहां के लोगों बड़ी खुशी का माहौल था। राजाजीपुरम के सम्मानित मुकेश साजन डॉक्टर, अभिजीत सिन्हा साईं सेवा समिति के अध्यक्ष, अंक जी सिन्हा सामाजिक कार्यकर्ता, ख्वाजा ग्रुप की नाजिया मैम, बृजेंद्र सिंह, राहुल केन्द्रीय पत्रकार, हेल्प एसोसिएशन के राष्ट्रीय संगठन मंत्री अनीस अंसारी एवं सच की आवाज न्यूज़ चैनल से प्रधान संपादक अनीस अंसारी, वरिष्ठ पत्रकार मनोज कुशवाह, वरिष्ठ पत्रकार मोहम्मद अरशद अली, वरिष्ठ पत्रकार अब्दुल रहीम आजाद, वरिष्ठ पत्रकार जावेद खान, वरिष्ठ पत्रकार चांद बाबू, सभी सम्मानित लोग उपस्थित रहे।

G7 की बैठक में शामिल होने के लिए जर्मनी पहुंचे, पीएम

G7 की बैठक में शामिल होने के लिए जर्मनी पहुंचे, पीएम

अखिलेश पांडेय
नई दिल्ली/बर्लिन। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रविवार को जर्मनी पहुंचे हैं। पीएम मोदी यहां G7 की बैठक में शामिल होने के लिए पहुंचे हैं। इस दौरान उनका एयरपोर्ट पर जोरदार स्वागत किया गया। आधिकारिक बयान में बताया गया कि वह G7 देशों और अतिथि देशों के साथ पर्यावरण, ऊर्जा, जलवायु, खाद्य सुरक्षा, स्वास्थ्य, आतंकवाद, लैंगिक समानता और लोकतंत्र जैसे मुद्दों पर चर्चा करेंगे। पीएम मोदी G7 और अतिथि देशों के साथ बैठक करेंगे और समकालीन मुद्दों पर बातचीत करेंगे। जर्मनी में आयोजित G-7 शिखर सम्मलेन में पीएम मोदी दो सत्रों को संबोधित भी कर सकते हैं। खबर है कि वे जिन सत्रों को संबोधित करेंगे उनमें एक सत्र पर्यावरण, उर्जा और जलवायु से संबंधित होगा। वहीं दूसरा सत्र खाद्य सुरक्षा और लैंगिक सामनता को लेकर होगा। वहीं इस सम्मलेन के दौरान ही वह कई राष्ट्रों के प्रमुखों से साथ बैठकें भी करेंगे।
आधिकारिक सूत्रों ने अनुसार जर्मनी और संयुक्त अरब अमीरात में लगभग 60 घंटे के प्रवास के दौरान प्रधानमंत्री दुनिया के सात सबसे अमीर देशों के समूह G7 की बैठक में भाग लेने के अलावा कई द्विपक्षीय बैठकें करेंगे। विदेश सचिव विनय मोहन क्वात्रा ने शुक्रवार को कहा था कि मोदी शिखर सम्मेलन से इतर G7 और अतिथि देशों के नेताओं साथ द्विपक्षीय मुलाकात और चर्चा करेंगे।G7 शिखर सम्मेलन के दौरान यूक्रेन संघर्ष, हिन्द प्रशांत क्षेत्र की स्थिति, खाद्य एवं ऊर्जा सुरक्षा, जलवायु सहित महत्वपूर्ण वैश्विक चुनौतियों पर चर्चा होगी। विदेश सचिव विनय क्वात्रा ने शुक्रवार को संवाददाताओं को यह जानकारी दी। विदेश सचिव विनय क्वात्रा ने कहा कि G-7 शिखर सम्मेलन में विशेष आमंत्रित के रूप में भारत की भागीदारी वैश्विक चुनौतियों के समाधान खोजने में नई दिल्ली की महत्वपूर्ण भूमिका के लिए विश्व समुदाय द्वारा जुड़े महत्व को दर्शाती है।

तंत्र विद्या का चक्कर, युटेरस-आंत बाहर निकाली

तंत्र विद्या का चक्कर, युटेरस-आंत बाहर निकाली
विमलेश यादव   
गढ़वा। मानवत को शर्मसार कर देने वाला मामला झारखंड के गढ़वा जिले का है। श्रीबंशीधर नगर थाना क्षेत्र के जंगीपुर उरांव टोला टोला निवासी मुन्ना उरांव की 26 वर्षीय पत्नी गुड़िया देवी को भूत-प्रेत के चक्कर में उसकी सगी बहन ललिता देवी और बहनोई दिनेश उरांव ने पति, सास, देवर और देवरानी के सामने बलि चढ़ा दी। तंत्र-मंत्र के दौरान गुड़िया देवी की सबसे पहले जीभ काटी गई। इसके बाद प्राइवेट पार्ट के जरिए उसकी यूटेरस और आंत भी बाहर निकाल ली गई। तड़प-तड़पकर गुड़िया ने दम तोड़ दिया। घटना पिछले मंगलवार की है। मृतका गुड़िया की बहन ललिता देवी और बहनोई दिनेश उरांव मेराल थाना क्षेत्र के दलेली गांव के रहने वाले हैं। घटना के बाद से सभी आरोपित फरार हैं। 
अपनी सगी बहन की बलि चढ़ाने वाली ललिता ने हत्या का विरोध करने पर मृतका गुड़िया की देवरानी उषा देवी पर भी जानलेवा हमला किया। उषा देवी की नजरों के सामने घटित हत्या की घटना से वह काफी डरी सहमी हुई है। उषा ने बताया कि सब कुछ मेरी आंखों के सामने घटित हुआ है। उषा ने बताया कि ‘मैं रामशरण उरांव के घर नहीं जा रही थी, पर जेठानी गुड़िया उसे व उसके पति शंभू उरांव और सास को भी ले गई। वहां जाने पर उसकी जेठानी गुड़िया खेलने-दरशने लगी और उस पर भी खेलने का दबाव बनाया गया। जब उसने कहा कि उसे कोई भूत-प्रेत नहीं लगा है, तो उसे उसकी जेठानी ने बांस के डंडे से मारा। जिससे वह बेहोश हो गई। थोड़ी देर बाद जब होश में आई तो देखा कि उसकी जेठानी के मुंह में हाथ डालकर उसकी बहन ने जीभ बाहर निकाली और काट दी। यूटेरस और आंत भी बाहर निकाल ली। गुड़िया के बहन, बहनोई व अन्य लोग उसे इलाज के बहाने रंका ले गए और वहीं शव को जला दिया।’
पुलिस ने मृतिका के पति मुन्ना उरांव, रामशरण उरांव उर्फ गोटा के दो पुत्र व दो बहू, रंका थाने के खूरा गांव निवासी मृतका के पिता त्रिवेणी उरांव व भाई धनंजय उरांव को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है। पुलिस ने बताया कि इस मामले में अवैध महुआ शराब कारोबारी रामशरण उरांव की भूमिका संदिग्ध है। हत्या के बाद रामशरण भी अपने घर से फरार है।

निरंतर प्रयास से सफलता मिलती है, सीएम धामी

निरंतर प्रयास से सफलता मिलती है, सीएम धामी

पंकज कपूर   
देहरादून। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने रविवार को मुख्यमंत्री कैम्प कार्यालय में प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के मन की बात कार्यक्रम को सुना। मन की बात कार्यक्रम को सुनने के बाद मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी का मन की बात कार्यक्रम हम सभी को आगे बढने के लिए प्रेरित करता है। आज के कार्यक्रम में प्रधानमंत्री जी ने आपातकाल का जिक्र कर बताया कि किस तरह से देश की महान जनता ने लोकतांत्रिक तरीके से आपातकाल को हटा कर फिर से लोकतंत्र स्थापित किया। लोकतंत्र इस देश की संस्कृति का मूल आधार है। 

प्रधानमंत्री जी ने एथलीट नीरज चोपड़ा और क्रिकेटर मिताली राज के बारे में भी बताया। दोनों खिलाडियों ने साधारण पृष्ठभूमि से होते हुए भी अपनी मेहनत, जुनून और योग्यता से देश का मान सम्मान बढ़ाया है। देश के युवाओं को इनसे प्रेरणा लेकर अपने जीवन लक्ष्य को पाने के लिए निरंतर प्रयास करते रहना चाहिए। निरंतर प्रयास करने वालों को निश्चित रूप से सफलता मिलती है। 

रामपुर-आजमगढ़ सीट पर भाजपा की जीत हुई

रामपुर-आजमगढ़ सीट पर भाजपा की जीत हुई

हरिओम उपाध्याय  
लखनऊ। उत्तर-प्रदेश में रामपुर से भाजपा के घनश्याम लोधी ने जीत हासिल कर ली है। वहीं, आजमगढ़ में भी बीजेपी के निरहुआ जीत गए हैं। इस तरह 2019 में दोनों सीटों पर जीत दर्ज करने वाली सपा रामपुर और आजमगढ़ दोनों सीटों पर हार गई है। रामपुर लोकसभा सीट पर उपचुनाव के बाद आखिरकार समाजवादी पार्टी के आजम खां का किला ढह गया। आजम खां द्वारा छोड़ी गई लोकसभा सीट पर हुए उपचुनाव में भारतीय जनता पार्टी के प्रत्याशी घनश्याम लोधी ने आजम खां के करीबी सपा प्रत्याशी मौहम्मद आसिम राजा को हरा दिया।

बता दें कि रामपुर को सपा नेता आजम खां का गढ़ माना जाता है। यहां से भाजपा की जीत को बड़ी जीत माना जा रहा है। निर्वाचन आयोग से उपलब्ध आंकड़ों के अनुसार भाजपा प्रत्याशी घनश्याम लोधी ने आजम खान के अति करीबी माने जाने वाले मौहम्मद असीम राजा को 42048 वोटों से हरा दिया है। भाजपा प्रत्याशी घनश्याम सिंह लोधी ने जीतने के बाद कहा कि मैं अपनी जीत पार्टी के कार्यकर्ताओं को समर्पित करता हूं। उन्होंने दिन-रात मेहनत की। मैं रामपुर के लोगों को धन्यवाद देना चाहता हूं। भाजपा हमेशा से जनता के विकास के लिए काम करती रही है। वहीं, दूसरी और सपा प्रमुख अखिलेश यादव के गढ़ आजमगढ़ में भी भाजपा ने बाजी मारी है। आजमगढ़ लोकसभा सीट पर भी भाजपा प्रत्याशी भोजपुर फिल्मो के हीरो दिनेश लाल यादव ‘निरहुआ’ सपा प्रत्याशी धर्मेंद्र यादव से 11212 मतों से जीत गए है। सीएम योगी आदित्यनाथ बोले- परिवादवाद को जनता स्वीकार नहीं करेगी।

योगी परिवारवादी, साम्प्रदायिक, जातिवादी, माफिया ताकतों को जनता ने आज स्पष्ट सन्देश दिया है। जनता ऐसे लोगों को किसी तरह स्वीकार करने को तैयार नहीं है। बीजेपी के नेतृत्व में सकारात्मक सोच और कल्याणकारी योजनाओं को आगे बढाने के अभियान की विजय है। यूपी में 2024 के चुनाव का ये दूरगामी सन्देश है‌। यूपी में 80 में से 80 सीटें जीतने का संदेश आज जनता ने दिया है। कार्यकर्ताओं ने कठिन चुनौती पर सफलता प्राप्त करने के लिए जो मेहनत की, उसके लिए उन्हें बधाई है।

भूमि अधिकार आंदोलन सम्मेलन, 28 को पेस्टोरल सेंटर

भूमि अधिकार आंदोलन का सम्मेलन 28 को पेस्टोरल सेंटर, रायपुर में ; हन्नान मोल्ला, मेधा पाटकर, सुनीलम होंगे शामिल

दुष्यंत टीकम
रायपुर। छत्तीसगढ़ में जल, जंगल, जमीन, खनिज और अन्य प्राकृतिक संसाधनों की कॉरपोरेट लूट तथा इसके खिलाफ लड़ रहे संगठनों और कार्यकर्ताओं पर दमन के खिलाफ भूमि अधिकार आंदोलन का राज्य स्तरीय सम्मेलन 28 जून को पेस्टोरल सेंटर, बैरन बाजार, रायपुर में आयोजित किया जा रहा है। छत्तीसगढ़ बचाओ आंदोलन द्वारा आयोजित इस सम्मेलन में छत्तीसगढ़ में भूमि से विस्थापन, पुनर्वास, पर्यावरण संरक्षण, आदिवासियों, दलितों व कमजोर तबकों के अधिकार और आजीविका जैसे मुद्दों पर काम कर रहे अनेक संगठनों और उनके प्रतिनिधियों के भाग लेने की संभावना है। इन आंदोलनों से जुड़े हन्नान मोल्ला, मेधा पाटकर, सुनीलम, बादल सरोज, प्रफुल्ल समंत्रा जैसे राष्ट्रीय नेता भी इस सम्मेलन में शिरकत करेंगे।

यह जानकारी एक विज्ञप्ति में छत्तीसगढ़ बचाओ आंदोलन के संयोजक आलोक शुक्ल और छत्तीसगढ़ किसान सभा के अध्यक्ष संजय पराते ने दी। उन्होंने बताया कि भूमि अधिग्रहण कानून में मोदी सरकार द्वारा प्रस्तावित कॉरपोरेटपरस्त और किसान विरोधी संशोधनों के खिलाफ संघर्ष के दौरान भूमि अधिकार आंदोलन का जन्म हुआ था, जिसने पूरे देश में चल रहे भूमि संघर्षों को संगठित और एकजुट करके मोदी सरकार के किसान विरोधी कदमों को मात दी थी। प्रदेश में भूमि संघर्षों को विकसित करने और प्राकृतिक और सामुदायिक संसाधनों की लूट के खिलाफ छत्तीसगढ़ बचाओ आंदोलन से जुड़े संगठन महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं।

उन्होंने कहा कि इस समय छत्तीसगढ़ में हसदेव, सिलगेर, रावघाट, बेचाघाट, कोरबा, चांपा, रायगढ़, जशपुर व नया रायपुर में किसानों और आदिवासियों के महत्वपूर्ण संघर्ष चल रहे हैं। ये सभी संघर्ष भूमि की रक्षा, विस्थापन, पुनर्वास सुविधा, रोजगार व ग्रामीण समुदायों की आजीविका जैसे मुद्दों पर चल रहे है। भूमि अधिकार आंदोलन के सम्मेलन में इन संघर्षों में शामिल कार्यकर्ता अपने अनुभवों का आदान-प्रदान करेंगे और इन संघर्षों को समन्वित तरीके से चलाने की रणनीति पर विचार-विमर्श करेंगे, ताकि इन मुद्दों पर साझा आंदोलन विकसित किया जा सके और उसे मजबूत बनाया जा सके। सम्मेलन में शामिल होने वाले भूमि अधिकार आन्दोलन से जुड़े राष्ट्रीय नेता भी इसके लिए आवश्यक मार्गदर्शन करेंगे।

उन्होंने बताया कि सम्मेलन में छत्तीसगढ़ के विभिन्न स्थानों पर चल रहे संघर्षों के साथ एकजुटता जाहिर करते हुए इन आंदोलनों पर राज्य प्रायोजित दमन के खिलाफ भी आवाज बुलंद की जाएगी। ये दमन स्थानीय समुदायों को डराने-धमकाने, संविधान में निहित स्वशासन की अवधारणा को कुचलने तथा कॉरपोरेट लूट को सुगम बनाने के उद्देश्य से किया जा रहा है, जिसके खिलाफ प्रदेश की सभी जनतांत्रिक ताकतों को लामबंद किया जाएगा। प्रदेश की काँग्रेस सरकार ने लोकतांत्रिक विरोध प्रदर्शनों पर जो गैर-कानूनी प्रतिबंध लगाए हैं, उसके खिलाफ भी आवाज़ बुलंद की जाएगी।

भारतीय अर्थव्यवस्था की वृद्धि को समर्थन: गोयल

भारतीय अर्थव्यवस्था की वृद्धि को समर्थन: गोयल
इकबाल अंसारी 
कोयंबतूर। केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने कहा है कि भरोसेमंद एवं निर्णायक नेतृत्व के साथ ही लोकतांत्रिक संरचना के चलते हर स्तर पर पारदर्शिता से भी भारतीय अर्थव्यवस्था की वृद्धि को समर्थन मिला है। वाणिज्य, उद्योग और कपड़ा मंत्री ने कहा कि देश ने एक स्थिर नीति ढांचे की घोषणा की है और सभी क्षेत्रों में किए गए प्रत्येक निवेश का सम्मान किया है। गोयल ने उद्योग और आंतरिक व्यापार संवर्धन विभाग (डीपीआईआईटी) के सहयोग से आयोजित सीआईआई के सदस्यों के साथ एक विशेष बैठक में यह बात कही। इस बैठक का आयोजन भारत सरकार और इंवेस्ट इंडिया के साथ मिलकर शनिवार शाम को किया गया।
एक आधिकारिक विज्ञप्ति में रविवार को कहा गया कि इस बैठक में कपड़ा, हल्के इंजीनियरिंग और आईसीटी क्षेत्रों के सदस्यों ने भाग लिया। गोयल ने कहा कि डीपीआईआईटी के सुधार वैश्विक वृद्धि के लिए भारतीय उद्योगों को सशक्त बना रहे हैं। उन्होंने कहा कि ओएनडीसी नेटवर्क (डिजिटल कॉमर्स के लिए ओपन नेटवर्क) की पेशकश से ग्राहक अपनी पसंद के विक्रेताओं के साथ सहजता से जुड़ सकेंगे। मंत्री ने कहा कि मौजूदा ई-कॉमर्स मंच प्रतिबंधात्मक हैं और ये डेवलपर की पसंद के उत्पादों का समर्थन करते हैं, लेकिन ओएनडीसी के जरिए एमएसएमई और स्टार्टअप अपने ग्राहकों के साथ जुड़ने में सक्षम हो सकते हैं।

संगरूर लोकसभा उपचुनाव में शिकस्त दी: मान

संगरूर लोकसभा उपचुनाव में शिकस्त दी: मान 

अमित शर्मा

चंडीगढ़। पंजाब संगरूर लोकसभा का उपचुनाव में सिमरनजीत सिंह मान ने जीता। उन्होंने आम आदमी पार्टी के गुरमेल सिंह को शिकस्त दी। आपको बता दें कि ये वही आम आदमी पार्टी है जिसने अभी विधानसभा चुनाव में 117 में 92 सीटें जीती थीं। आम आदमी पार्टी को संगरूर लोकसभा से उपचुनाव में करारी शिकस्त मिली है। अकाली दल अमृतसर के सिमरनजीत सिंह मान विजेता बने हैं। 

शिरोमणि अकाली दल (अमृतसर) के सिमरनजीत सिंह मान ने कहा कि उन्होंने संगरूर लोकसभा उपचुनाव जीत लिया है। यह हमारी पार्टी के लिए एक बड़ी जीत है। उन्होंने कहा कि हमने इस उपचुनाव में सभी राष्ट्रीय दलों को हराया है। मेरी प्राथमिकता संगरूर की खराब आर्थिक स्थिति सहित कर्ज में डूबे किसानों की स्थिति का मुद्दा उठाना होगा। हम पंजाब सरकार के साथ काम करेंगे।पंजाब के विधानसभा चुनाव में प्रचंड बहुमत पाने वाली आम आदमी पार्टी आज संगरूर लोकसभा के उपचुनाव में अपनी ही जमीन पर शिकस्त खा गई। 

आपको बता दें कि इस सीट से पंजाब के मौजूदा मुख्यमंत्री भगवंत मान सांसद हुआ करते थे। अकाली दल अमृतसर के सिमरनजीत सिंह मान ने आप के उम्मीदवार को शिकस्त दे दी।इसके पहले भगवंत मान के सीएम बनने के बाद खाली हुआ संगरूर लोकसभा सीट पर उपचुनाव के वोटों की गिनती आज सुबह से जारी हुई थी। आपको बता दें यहां मतदान प्रतिशत काफी कम रहा है। मतगणना से पहले ऐसा लग रहा था कि इस सीट पर आप, कांग्रेस, अकाली और बीजेपी के बीच टक्कर होगी लेकिन मुकाबला शिअद (ए) और आम आदमी पार्टी के बीच रहा जिसमें शिअद (ए) ने बाजी मारी।इस उपचुनाव में सिर्फ 45.30% मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया है। जबकि 2019 के लोकसभा चुनावों में, 72.40% मतदाता मतदान करने के लिए निकले थे। संगरूर संसदीय चुनावों में सबसे कम मतदान 1991 में हुआ था, जब केवल 10.9% लोगों ने मतदान किया था। यह वह समय था, जब पंजाब में आतंकवाद का बोलबाला था।

सबसे अधिक मतदान सीएम भगवंत मान के निर्वाचन क्षेत्र में हुआ, जो कि 48.26% है। जबकि विधानसभा चुनाव जो सिर्फ चार महीने पहले हुआ था, तब 77.32% मतदान हुआ था। सबसे कम मतदान बरनाला विधानसभा क्षेत्र में हुआ है।आप ने संगरूर जिला प्रभारी गुरमेल सिंह को मैदान में उतारा है। मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस के पूर्व धूरी विधायक दलवीर सिंह गोल्डी, जबकि भाजपा उम्मीदवार बरनाला के पूर्व विधायक केवल ढिल्लों हैं। ये 4 जून को ही पार्टी में शामिल हुए थे।

2014 के आम चुनावों में संगरूर लोकसभा क्षेत्र का मतदान प्रतिशत 77.21% था, जबकि 2009 के संसदीय चुनावों में यह 74.41% था। 2004 में इस संसदीय क्षेत्र से 61.6% मतदाताओं ने मतदान किया था, जबकि 1999 के चुनावों में 56.1% मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया था। 1998 के चुनावों में 60.1% मतदान हुआ था, जबकि 1996 के संगरूर लोकसभा चुनाव में यह 62.2% था।

“खरीद-फरोख्त” का आरोप, उच्च जांच की मांग

 “खरीद-फरोख्त” का आरोप, उच्च जांच की मांग 
कविता गर्ग  
मुंबई। शिवसेना कार्यकर्ताओं के एक समूह ने महाराष्ट्र में मौजूदा राजनीतिक संकट को लेकर जम्मू में रविवार को प्रदर्शन किया और भाजपा पर उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाली महा विकास आघाड़ी (एमवीए) सरकार को गिराने के वास्ते “खरीद-फरोख्त” में भूमिका होने का आरोप लगाते हुए उच्च स्तरीय जांच की मांग की। शिवसैनिकों ने जम्मू के बाहरी इलाके चन्नी में पार्टी मुख्यालय के बाहर प्रदर्शन किया और शिवसेना के बागी नेता एकनाथ शिंदे का पुतला भी फूंका, जो पार्टी के अन्य विधायकों और निर्दलीय विधायकों के साथ भाजपा शासित असम के एक होटल में ठहरे हैं।
जम्मू कश्मीर शिवसेना के प्रमुख मनीष साहनी ने पत्रकारों से कहा, “ हम ठाकरे परिवार के बिना शिवसेना की कल्पना नहीं कर सकते हैं और जिन्होंने नेतृत्व के खिलाफ विद्रोह किया है, वे गद्दार हैं जो एक राष्ट्रीय पार्टी के इशारे पर काम कर रहे हैं जो महाराष्ट्र में सत्ता में आने के लिए बेताब है।” प्रदर्शन का नेतृत्व कर रहे साहनी ने दावा किया कि गुवाहाटी में शिवसेना के अधिकांश विधायकों को बंधक बनाकर रखा जा रहा है।
उन्होंने कहा, “जब वे महाराष्ट्र की धरती पर लौटेंगे तो लोगों को असलियत पता चलेगी…प्रभाव, धनबल, ब्लैकमेलिंग और एजेंसियों के दुरुपयोग ने एमवीए सरकार को अस्थिर करने की कोशिश में बड़ी भूमिका निभाई है।” महाराष्ट्र में राजनीतिक संकट के पीछे भाजपा की कथित भूमिका की उच्च स्तरीय जांच की मांग करते हुए उन्होंने कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि असम में भाजपा सरकार बाढ़ प्रभावित लोगों तक पहुंचने के बजाय ‘गद्दारों की मेजबानी’ कर रही है।

गृहमंत्री: ड्रग्स राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए बड़ी चुनौती

गृहमंत्री: ड्रग्स राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए बड़ी चुनौती
अकांशु उपाध्याय 
नई दिल्ली। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने नशीली दवाओं को राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए बड़ी चुनौती बताते हुए कहा है कि इसके समूल नाश के लिए जन भागीदारी बेहद जरूरी है। शाह ने रविवार को नशीली दवाओं के सेवन और अवैध तस्करी के खिलाफ हर वर्ष 26 जून को मनाए जाने वाले अंतरराष्ट्रीय दिवस के मौके पर सिलसिलेवार ट्वीट में यह बात कही।
उन्होंने कहा, ड्रग्स की समस्या राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए एक बड़ी चुनौती है। मोदी जी के नेतृत्व में गृह मंत्रालय ने इस लड़ाई को समन्वयित और संस्थागत बनाया है। लेकिन इसके समूल नाश के लिए जनभागीदारी आवश्यक है, आइए हम सब मिलकर मोदी जी के ड्रग्स मुक्त भारत के संकल्प को पूरा करने में अपना योगदान दें।
एक अन्य ट्वीट में उन्होंने कहा, मोदी सरकार की ड्रग्स के विरुद्ध जीरो टॉलरेंस की नीति रही है। नशीली दवाओं के दुरुपयोग व अवैध तस्करी के खिलाफ अंतरराष्ट्रीय दिवस पर मैं मोदी जी के ड्रग्स मुक्त भारत के संकल्प को पूरा करने में लगे राष्ट्रीय अपराध ब्यूरो के कर्मियों, गैर सरकारी संगठनों व इससे जुड़े वालंटियर्स को उनके प्रयासों के लिए बधाई देता हूँ।

50 से अधिक देशों में मंकीपॉक्स का प्रकोप जारी

50 से अधिक देशों में मंकीपॉक्स का प्रकोप जारी
सुनील श्रीवास्तव 
लंदन। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने कहा है कि 50 से अधिक देशों में मंकीपॉक्स के बढ़ते प्रकोप पर करीबी नजर रखी जानी चाहिए, लेकिन फिलहाल इसे वैश्विक स्वास्थ्य आपातकाल की स्थिति घोषित करने की आवश्यकता नहीं है।

डब्ल्यूएचओ की आपातकालीन समिति ने शनिवार को एक बयान जारी कर कहा कि प्रकोप के कई पहलू ‘‘असामान्य’’ थे और माना कि मंकीपॉक्स के खतरों पर वर्षों से गौर नहीं किया गया है। हालांकि, समिति ने कहा कि मंकीपॉक्स कुछ अफ्रीकी देशों में अब महामारी नहीं रह गया है।बयान के मुताबिक, ‘‘कुछ सदस्यों ने अलग-अलग विचार व्यक्त किए हैं। हालांकि, समिति ने डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक को सर्वसम्मति से यह सुझाव देने का निर्णय लिया है कि मंकीपॉक्स को इस स्तर पर ‘‘वैश्विक आपातकाल की स्थिति’’ नहीं घोषित करना चाहिए।’’

हालांकि, डब्ल्यूएचओ ने प्रकोप की ‘‘आपातकालीन प्रकृति’’ की तरफ इशारा किया है और कहा है कि इसके प्रसार को नियंत्रित करने के लिए ‘‘तेजी से कदम उठाने’’ की जरूरत है।

समिति ने कहा कि प्रकोप पर ‘‘करीबी नजर रखने और कुछ हफ्तों के बाद स्थिति की समीक्षा किए जाने की आवश्यकता है।’’

उसने यह भी कहा अगर कुछ नए घटनाक्रम सामने आते हैं-जैसे कि यौनकर्मियों के बीच प्रसार, अन्य देशों में या उन देशों में संक्रमण का फैलना, जहां पहले से ही मंकीपॉक्स के मामले हैं, मामलों की गंभीरता में वृद्धि या प्रसार की बढ़ती दर तो वह फिर से स्थिति का मूल्यांकन करने की सिफारिश करेगी।

डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक टेड्रोस अधोनोम घेब्रेयेसस ने बृहस्पतिवार को उन देशों में मंकीपॉक्स के प्रसार को लेकर चिंता जताने के बाद आपातकालीन समिति की बैठक बुलाई थी, जहां पहले इस महामारी की सूचना नहीं थी।

डब्ल्यूएचओ प्रमुख ने कहा, ‘‘वर्तमान प्रकोप विशेष रूप से नए देशों और क्षेत्रों में तेजी से फैल रहा है और संवेदनशील आबादी के बीच इसके प्रसार का जोखिम बढ़ गया है, जिसमें कमजोर प्रतिरक्षा वाले लोग, गर्भवती महिलाएं और बच्चे शामिल हैं।’’

मंकीपॉक्स के कारण मध्य और पश्चिम अफ्रीका में दशकों से लोग संक्रमित हुए हैं, लेकिन पिछले महीने तक एक ही समय में कई देशों में या प्रभावित मुल्कों की यात्रा न करने वाले लोगों में इस संक्रमण के मामले सामने नहीं आए थे।

आपातकाल, ‘लोकतंत्र को कुचलने’ का प्रयास: पीएम

आपातकाल, ‘लोकतंत्र को कुचलने’ का प्रयास: पीएम
अकांशु उपाध्याय 
नई दिल्ली। 26 जून प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को कहा कि भारत में 1975 में लगाए गए आपातकाल के दौरान ‘लोकतंत्र को कुचलने’ का प्रयास किया गया था।
उन्होंने कहा कि दुनिया में ऐसा कोई और उदाहरण खोजना मुश्किल है, जहां लोगों ने लोकतांत्रिक तरीकों से ‘तानाशाही मानसिकता’ को हराया।
रेडियो पर प्रसारित अपने ‘मन की बात’ कार्यक्रम में मोदी ने इंदिरा गांधी के नेतृत्व वाली तत्कालीन सरकार द्वारा लगाए गए आपातकाल के दिनों को याद किया और कहा कि उस दौरान सभी अधिकार ‘छीन’ लिए गए थे।
देश में 25 जून 1975 को आपातकाल लागू करने की घोषणा की गई थी, जब इंदिरा गांधी प्रधानमंत्री थीं। 21 मार्च 1977 को आपातकाल हटा लिया गया था।
मोदी ने कहा, “आपातकाल के दौरान सभी अधिकार छीन लिए गए थे। इन अधिकारों में संविधान के अनुच्छेद 21 के तहत प्रदत्त जीवन और व्यक्तिगत स्वतंत्रता का अधिकार शामिल था। उस समय भारत में लोकतंत्र को कुचलने का प्रयास किया गया था। देश की अदालतों, सभी संवैधानिक संस्थाओं, प्रेस, सब को नियंत्रण में ले लिया गया था।
उन्होंने कहा कि सेंसरशिप इतनी सख्त थी कि बिना मंजूरी के कुछ भी प्रकाशित नहीं किया जा सकता था।
प्रधानमंत्री ने कहा, “मुझे याद है, जब प्रसिद्ध गायक किशोर कुमार जी ने सरकार की तारीफ करने से इनकार कर दिया था, तब उन्हें प्रतिबंधित कर दिया गया था, उन्हें रेडियो पर आने की अनुमति नहीं थी।
उन्होंने जोर देकर कहा कि कई प्रयासों, हजारों गिरफ्तारियों और लाखों लोगों पर अत्याचार के बावजूद लोकतंत्र में भारतीयों का विश्वास नहीं डगमगाया।

मोदी ने कहा, “सदियों से हमारे भीतर बसे लोकतांत्रिक मूल्यों, हमारी रगों में बहने वाली लोकतंत्र की भावना की आखिरकार जीत हुई।
उन्होंने कहा कि भारत के लोगों ने लोकतांत्रिक तरीकों से आपातकाल से छुटकारा पाया और लोकतंत्र को बहाल कराया।
प्रधानमंत्री ने कहा, “लोकतांत्रिक तरीकों से तानाशाही मानसिकता को हराने का दुनिया में ऐसा उदाहरण मिलना मुश्किल है।
उन्होंने कहा, “आपातकाल के दौरान मुझे भी देशवासियों के संघर्ष का साक्षी बनने और उसमें योगदान देने का सौभाग्य प्राप्त हुआ। आज जब देश अपनी आजादी के 75 वर्षों का जश्न मना रहा है, तब हमें आपातकाल के काले दौर को नहीं भूलना चाहिए। आने वाली पीढ़ियां भी इसे न भूलें।

उपचुनाव में 6,104 वोटों से जीत हासिल: भाजपा

उपचुनाव में 6,104 वोटों से जीत हासिल: भाजपा
इकबाल अंसारी 
त्रिपुरा। अगरतला 26 जून त्रिपुरा के मुख्यमंत्री व भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के उम्मीदवार माणिक साहा ने टाउन बारदोवली सीट पर हुए उपचुनाव में रविवार को 6,104 वोटों के अंतर से जीत हासिल की। निर्वाचन आयोग ने यह जानकारी दी। साहा को 17,181 मत मिले, जो क्षेत्र में पड़े कुल वोटों का 51.63 प्रतिशत है।
वहीं, उनके निकटतम प्रतिद्वंद्वी कांग्रेस के आशीष कुमार साहा को 11,077 वोट हासिल हुए, जो कुल वोटों का 33.29 प्रतिशत है।
वाम मोर्चे की तरफ से फॉरवर्ड ब्लॉक के उम्मीदवार रघुनाथ सरकार तीसरे स्थान पर रहे। उन्होंने 3,376 (10.15 फीसदी) वोट हासिल किए।
तत्कालीन मुख्यमंत्री बिप्लब देब के अचानक इस्तीफा देने के बाद राज्यसभा सांसद माणिक साहा को पिछले महीने राज्य का मुख्यमंत्री नियुक्त किया गया था। मुख्यमंत्री बने रहने के लिए उन्हें यह उपचुनाव जीतना था।
नियमानुसार विधानसभा के लिए चुने जाने के बाद अब वह सांसद पद से इस्तीफा दे देंगे।
आशीष कुमार साहा के भाजपा विधायक के रूप में इस्तीफा देने और फरवरी में कांग्रेस में शामिल होने के बाद टाउन बारदोवली सीट पर उपचुनाव हुआ था।

देश रास्ते पर लाएंगे, जिसपे आजादी के बाद चला

देश रास्ते पर लाएंगे, जिसपे आजादी के बाद चला
अकांशु उपाध्याय 
नई दिल्ली। जहां भाजपा ‘हिंदुत्व’ पर समर्थन जुटाने में लगी हुई है, वहीं कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सलमान खुर्शीद ने यह कहकर इस कदम का मुकाबला करने की कोशिश की कि पूरा देश ‘हिंदुत्व’ की चपेट में नहीं आया है।
सलमान खुर्शीद ने कहा, “यह कोई ऐसा मुद्दा नहीं है जिसे मैं चंद शब्दों में समझा सकता हूं। मैं यह मानने को तैयार नहीं हूं कि पूरा देश हिंदुत्व के वश में आ गया है। आंकड़ों या मेरी समझ के अनुसार ऐसा नहीं हुआ है, हालांकि, निश्चित रूप से बड़ी संख्या में लोग उनके साथ खड़े हुए हैं और उन्हें सत्ता में लाए हैं।
सलमान खुर्शीद ने अग्निपथ योजना के पीछे सशस्त्र बलों के ‘चरित्र’ पर उठाए सवाल
“जब कोई सरकार एक नए राजनीतिक विचार के साथ आती है, तो लोग उसका लाभ भी उठाते हैं। कुछ लोग कांग्रेस के प्रति द्वेष के कारण भाजपा में गए हैं, लेकिन यह स्थायी नहीं है।
उन्होंने आगे कहा, “अगर हम अपनी बात ठीक से नहीं रख सकते हैं, तो निश्चित रूप से दूसरों की बात प्रबल होगी। इसका मतलब यह नहीं है कि हमारे पास कहने के लिए कुछ नहीं है। हमें अपनी कहानी निश्चित रूप से बतानी चाहिए और इसे सही तरीके से बताया जाना चाहिए। हम निश्चित रूप से भारत को उस रास्ते पर वापस लाएंगे, जिस पर वह आजादी के बाद चला था।
छत्तीसगढ़, एमपी और राजस्थान में होने वाले विधानसभा चुनाव के मुद्दों पर खुर्शीद ने कहा, ”उदयपुर में चिंतन शिविर के बाद पार्टी में नई नियुक्तियां हो रही हैं, संगठन को मजबूत करने का काम किया जा रहा है. आगामी चुनाव के लिए टीम बनाने पर भी काम चल रहा है। हमारे मीडिया विभाग को भी मजबूत किया जा रहा है। इसका परिणाम आने वाले समय में देखने को मिलेगा।
बीजेपी बुलडोजर का इस्तेमाल कर रही है, क्या इससे कांग्रेस पर राजनीतिक असर पड़ेगा। इस सवाल पर उन्होंने कहा, “अगर कोई अपराध करता है, तो उस अपराध की सजा कानून के तहत समान हो सकती है, आप तय नहीं कर सकते कि क्या सजा दी जाएगी। लोग 50 साल से घर बना रहे हैं, अब उन्हें पता चल रहा है कि कौन सा घर वैध है और कौन सा नहीं। बुलडोजर कार्रवाई की वैधता पर संसद में चर्चा होनी चाहिए। अभी लोग इतने डरे हुए हैं कि वे इस मुद्दे पर खुलकर बात भी नहीं कर रहे है।
ज्ञानवापी मुद्दे पर उन्होंने कहा कि, ”कानून के तहत जो कुछ भी किया जाना चाहिए, वह कानून के अनुसार किया जाना चाहिए और उस पर एक कानून है। अब कोर्ट को तय करना है कि 1991 के पूजा स्थल अधिनियम के तहत क्या करना है।

24 घंटे में 11,739 नए केस मिलें, कोरोना वायरस

24 घंटे में 11,739 नए केस मिलें, कोरोना वायरस
अकांशु उपाध्याय 
नई दिल्ली। देश में कोरोना केस के बढ़ोतरी का सिलसिला जारी है। बीते 24 घंटे में 11,739 नए केस मिले। इसके साथ ही सक्रिय केस में 797 की बढ़ोतरी हुई और ये बढ़कर कुल 92,576 हो गए। संक्रमण दर 2.59 फीसदी दर्ज की गई।
रविवार सुबह 8 बजे जारी अपडेट आंकड़ों के अनुसार देश में अब कुल मरीजों की संख्या बढ़कर 4,33,89,973 हो गई। बीते 24 घंटे में 25 लोगों ने दम तोड़ दिया। इन्हें मिलाकर कुल मृतक संख्या बढ़कर 5,24,999 हो गई।बीते 24 घंटे में 25 मौतें हुईं। इनमें से 10 की मौत केरल में, दिल्ली में 6, महाराष्ट्र में 4, पश्चिम बंगाल में दो और हिमाचल, झारखंड व राजस्थान में एक-एक व्यक्ति की मौत हुई। सक्रिय मरीजों की संख्या कुल संक्रमितों के 0.21 फीसदी है। वहीं, अब तक कुल संक्रमितों से 98.58 फीसदी स्वस्थ हो चुके हैं। दैनिक संक्रमण दर 2.59 फीसदी है, वहीं साप्ताहिक संक्रमण दर 3.25 फीसदी है। वहीं, कोविड मृत्यु दर 1.21 फीसदी है।स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार देश में कोरोना रोधी टीकाकरण अभियान जारी है। अब तक कुल 197.08 करोड़ खुराक दी जा चुकी है। 

तीन दिन से कम मिल रहे नए केस
शनिवार को देश में 15,940 नए कोरोना संक्रमित मिले थे और 20 लोगों की महामारी से मौत हो गई थी। शुक्रवार को देश में 17,336 मामले सामने आए थे। रविवार को ये और घटकर 15,940 रह गए। इस तरह देखा जाए तो बीते तीन दिनों से कोरोना के नए मामलों की बढ़ती रफ्तार थमी है।

30 साल का जश्न, इंस्टाग्राम पर होस्ट किया

30 साल का जश्न, इंस्टाग्राम पर होस्ट किया
कविता गर्ग  
मुंबई। बॉलीवुड अभिनेता शाहरुख खान ने शनिवार को सलमान खान के साथ काम करने के अपने अनुभव और उनके बीच के बंधन के बारे में बात की। सत्र के दौरान सलमान के बारे में बात की, जिसे उनके द्वारा अपनी बॉलीवुड यात्रा के 30 साल का जश्न मनाने के लिए इंस्टाग्राम पर होस्ट किया गया था।
इस लाइव सेशन के दौरान मौजूद फैंस में एक ने सुपरस्टार से सलमान के साथ उनके काम के अनुभव के बारे में पूछा। “सलमान खान के साथ काम करने का कोई अनुभव नहीं है। केवल प्रेम अनुभव, सुखद अनुभव, मैत्रीपूर्ण अनुभव और भाईचारे के अनुभव हैं। इसलिए, जब भी मुझे उनके साथ काम करने का मौका मिलता है तो यह आश्चर्यजनक होता है।”
शाहरुख ने आगे कहा, “हमने करण अर्जुन के अलावा एक साथ एक पूर्ण फिल्म नहीं की है, जो भी पूर्ण नहीं थी क्योंकि हम इसमें बहुत लंबे समय तक एक साथ नहीं थे। इसलिए, हमें कभी-कभी साल में चार-पांच दिन काम करने को मिलता है। पिछले दो साल शानदार रहे क्योंकि मुझे उनकी एक फिल्म में काम करना पड़ा। कबीर खान के साथ मेरी कुछ दिनों की भूमिका थी। और उन्होंने जीरो में आकर मेरे साथ गाना किया।
उन्होंने अपनी और सलमान की आने वाली बहुप्रतीक्षित परियोजनाओं को भी छुआ। “अब, पठान में। मुझे नहीं पता कि यह सीक्रेट है या नहीं, लेकिन इंशाअल्लाह, मैं टाइगर 3 में भी कोशिश करूंगा। इसलिए उनके साथ काम करने में बहुत मजा आया।
शाहरुख और सलमान के एक-दूसरे की फिल्मों में कैमियो के बारे में खबर की पुष्टि पिछले साल उनके जन्मदिन की पार्टी के दौरान की गई थी। “हम दोनों ‘टाइगर 3’ के साथ-साथ ‘पठान’ में भी नजर आएंगे। टाइगर अगले साल दिसंबर तक रिलीज होगी। ‘पठान’ इससे पहले रिलीज हो सकती है, और फिर दो शायद साथ आएंगे।”
लाइव #AskSRK सत्र के दौरान, 56 वर्षीय अभिनेता ने साझा किया था कि ‘पठान’ की टीम नवंबर या दिसंबर में ट्रेलर जारी कर सकती है। इससे पहले आज शाहरुख ने अपनी आगामी फिल्म ‘पठान’ के पहले मोशन पोस्टर का अनावरण किया, जिसने उनके प्रशंसकों को उत्साहित कर दिया।
‘पठान’ के अलावा, शाहरुख के पास ‘जवान’ और ‘डुंकी’ सहित कई परियोजनाएं हैं।

रणजी ट्रॉफी में ऐतिहासिक जीत, भव्य स्वागत होगा

रणजी ट्रॉफी में ऐतिहासिक जीत, भव्य स्वागत होगा

मनोज सिंह ठाकुर  

भोपाल। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने रणजी ट्रॉफी क्रिकेट में प्रदेश की टीम की ऐतिहासिक जीत पर शुभकामनाएं प्रेषित करते हुए कहा कि क्रिकेट रणबांकुरों का राजधानी भोपाल में भव्य स्वागत होगा । चौहान ने अपने बयान में कहा कि प्रदेश की क्रिकेट टीम ने इतिहास रच दिया। पहली बार कई बार की विजेता मुंबई को हराकर रणजी ट्रॉफी जीत ली।

उन्होंने कहा कि वे टीम के कोच चंद्रकांत पंडित, कैप्टन आदित्य श्रीवास्तव और उनके साथ पूरी टीम को हृदय से बधाई देते हैं। उनका अभिनंदन और स्वागत करते हैं। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि पूरी क्रिकेट टीम का प्रदेश की राजधानी भोपाल में भव्य स्वागत, नागरिक अभिनंदन किया जाएगा। क्रिकेट का एक नया इतिहास रचने वाले रणबांकुरों का भव्य स्वागत होगा।

खेलो इंडिया, अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं खिलाड़ी

खेलो इंडिया, अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं खिलाड़ी

मनोज सिंह ठाकुर 

भोपाल। मध्यप्रदेश भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) अध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा ने आज कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ‘मन की बात’ कार्यक्रम में खेलो इंडिया के अंतर्गत नए-नए रिकॉर्ड बना रहे युवा खिलाड़ियों की चर्चा की है कि किस तरह ये खिलाड़ी कठिन परिस्थितियों का सामना करते हुए अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं। श्री शर्मा ने आज नरेला विधानसभा के वार्ड क्र 37 के बूथ क्रमांक 124 में प्रधानमंत्री श्री मोदी का ‘मन की बात’ कार्यक्रम सुनने के बाद मीडिया से चर्चा के दौरान यह बात कही।उन्होंने कहा कि मोदी का प्रयास है कि गांव-गांव तक से छुपी हुई खेल प्रतिभाओं को निकालकर लाया जाए। उनके इन्हीं प्रयासों से नीरज चोपड़ा, मिताली राज जैसे खिलाड़ी देश का नाम रोशन कर रहे हैं और देश आगे बढ़ रहा है। प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि ‘मन की बात’ कार्यक्रम में प्रधानमंत्री ने इस बात की भी चर्चा की है कि किस तरह कांग्रेस की तत्कालीन सरकार ने आपातकाल लगाकर देश के नागरिकों की आवाज को दबा दिया था।

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने अपने कार्यक्रम में जिन मुद्दों की चर्चा की है, वास्तव में उन पर पूरे देश को गर्व है और वे इसके लिए प्रधानमंत्री का अभिनंदन करते हैं। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने बताया कि किस तरह देश के युवा अपने स्टार्टअप्स के माध्यम से स्पेस टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में काम कर रहे हैं, किस तरह एक सुदूर गांव में नदी साफ करके और प्लास्टिक कचरे का उपयोग सड़क बनाने में करके गांव के लोगों ने पर्यावरण का संरक्षण किया है। किस तरह एक प्राचीन बावड़ी की सफाई करके उसे पुनर्जीवित किया गया और उसे संगीत कार्यक्रम से जोड़ दिया गया।

उन्होंने खेलो इंडिया की चर्चा करते हुए यह बताया है कि किस तरह टेलेन्ट सर्च के माध्यम से बच्चों को गांव-गांव से निकालकर लाया जा रहा है। मोदी के ‘मन की बात’ कार्यक्रम में मध्यप्रदेश शासन के मंत्री विश्वास सारंग, पार्टी के जिला अध्यक्ष सुमित पचौरी, प्रदेश मंत्री राहुल कोठारी, महापौर प्रत्याशी मालती राय एवं वार्ड 37 की पार्षद प्रत्याशी वंदना कुशवाहा सहित जिले के पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता उपस्थित थे।

1550 फीट पर पक्षी से टकराया, इमरजेंसी लैंडिंग

1550 फीट पर पक्षी से टकराया, इमरजेंसी लैंडिंग 
संदीप मिश्र 

वाराणसी। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के वाराणसी्टर को 1550 फीट की ऊंचाई पर पक्षी से टकराने की वजह से इमरजेंसी लैंडिंग करानी पड़ी है। पायलट द्वारा समय रहते दिखाई गई समझबूझ से एक बड़ा हादसा टल गया है, जिससे लोगों ने राहत की सांस ली है। फिलहाल हेलीकॉप्टर को एहतियातन पुलिस लाइन के ग्राउंड में लैंड करा दिया गया है। यह चौकी इंचार्ज कर चुका है दर्जनों बदमाशों का हाफ एनकाउंटर- खुद भी खाई गोली रविवार की सवेरे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का हेलीकॉप्टर जिस समय 1550 फीट की ऊंचाई पर आसमान में उड़ रहा था, उस समय उनके चापर से एक पक्षी टकरा गया। पायलट ने तुुरंत समझबूझ से काम लेते हुए बर्ड हिट के बाद हेलीकॉप्टर को एहतियातन पुलिस लाइन के ग्राउंड में लैंड करा दिया है। हेलीकॉप्टर से पक्षी के टकरा जाने की वजह से मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पुलिस लाइन के ग्राउंड से वापस सर्किट हाउस लौटना पड़ा है। बसपा उम्मीदवार बीच में ही वापस लौटे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अब सड़क मार्ग से चलकर सर्किट हाउस से होते हुए लाल बहादुर शास्त्री इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर पहुंच गए हैं। जहां से वह थोड़ी देर बाद स्टेट प्लेन के माध्यम से राजधानी लखनऊ के लिए रवाना हो जाएंगे। दर्शन आज सवेरे तकरीबन 9.00 बजे सर्किट हाउस से लखनऊ जाने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के हेलीकॉप्टर ने पुलिस लाइन के ग्राउंड पर उड़ान भरी। लेकिन तकरीबन 10 मिनट के बाद ही उनके हेलीकॉप्टर को दोबारा से पुलिस लाइन ग्राउंड पर लैंड करना पड़ा। हेलीकॉप्टर के दोबारा से पुलिस लाईन के ग्राउंड पर लैंड करते ही पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों में बुरी तरह से हड़कंप मच गया। मुख्यमंत्री नीचे उतरे तो पता लगा कि 1550 फीट की ऊंचाई पर आसमान में एक पक्षी उनके हेलीकॉप्टर से टकरा गया था।

नई पार्टी 'शिवसेना बालासाहेब' का ऐलान किया

नई पार्टी 'शिवसेना बालासाहेब' का ऐलान किया
कविता गर्ग 
मुंबई। महाराष्ट्र में सियासी संकट बढ़ता ही जा रहा है। शिवसेना के अंदर चल रही उठापटक के बीच भाजपा भी सक्रिय हो गई है। उधर, शिंदे गुट ने नई पार्टी शिवसेना बालासाहेब का एलान कर दिया है। इस बीच शिवसेना नेता व राज्यसभा सांसद संजय राउत लगातार बागी नेता एकनाथ शिंदे व गुवाहाटी पहुंचे विधायकों पर हमला कर रहे हैं। वह कई बार विधायकों को कथित रूप से चेतावनी भी दे चुके हैं।
इस बीच संजय राउत अपने एक ट्वीट को लेकर फिर सुर्खियों में हैं। उन्होंने चेतावनी भरे लहजे में गुवाहाटी पहुंचे विधायकों पर हमला बोलते हुए ट्वीट किया, ‘कब तक छिपोगे गुवाहाटी में, आना ही पड़ेगा चौपाटी में…।’ दरअसल, विधायकों की बगावत के बाद संजय राउत लगातार विधायकों को मुंबई आने के लिए कह रहे हैं।
दरअसल, महाराष्ट्र में विधानपरिषद चुनाव के बाद मंगलवार से शिवसेना में बगावत के सुर फूटने शुरू हो गए थे। एकनाथ शिंदे के नेतृत्व में कई विधायक सूरत पहुंचे थे फिर वे असम के गुवाहाटी पहुंचे। इसके बाद से लगातार एक-एक करके शिवसेना के विधायक गुवाहाटी पहुंच रहे हैं। शिंदे गुट का दावा है कि उनके समर्थन में 38 विधायक हैं।
इससे पहले शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा था कि शिवसेना को कोई हाईजैक नहीं कर सकता है। शिवसेना बहुत बड़ी पार्टी है। इसे आसानी से हाईजैक नहीं किया जा सकता। उन्होंने कहा, शिवसेना को पैसे से तोड़ा नहीं जा सकता है। इसे बनाने के लिए लोगों ने कुर्बानी दी है। अपना खून बहाया है।

आप-भाजपा का विश्वास, भारी अंतर से जीत दर्ज करेंगे

आप-भाजपा का विश्वास, भारी अंतर से जीत दर्ज करेंगे
अकांशु उपाध्याय 
नई दिल्ली। दिल्ली में राजेंद्र नगर विधानसभा सीट पर हुए उपचुनाव के लिए रविवार सुबह आठ बजे कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच मतगणना शुरू हो गई। निर्वाचन अधिकारियों ने यह जानकारी दी। राजेंद्र नगर में 23 जून को उपचुनाव हुआ था और इस दौरान 43.75 प्रतिशत मतदाताओं ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया था। राजेंद्र नगर उपचुनाव में 14 उम्मीदवारों ने किस्मत आजमाई है। अधिकारियों ने कहा, ‘‘हमने मतगणनना के लिए सभी जरूरी तैयारियां की हैं।
मतगणना कक्ष में तीन स्तरीय सुरक्षा व्यवस्था की गई है। आईटीआई पूसा में मतगणना केंद्र स्थापित किया गया है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘डाक मतपत्रों की गिनती पहले की जाएगी और 26 जून को सुबह आठ बजे तक सैनिकों से प्राप्त मतपत्रों को ही मतगणना में शामिल किया जाएगा। इसके बाद ईवीएम (इलेक्ट्रनिक वोटिंग मशीन) में दर्ज मतों की गिनती की जाएगी।’’ अधिकारियों के मुताबिक, वीवीपैट (मतदाता वेरिफायड पेपर ऑडिट ट्रेल) पर्चियों की गिनती के लिए एक अलग विशेष बॉक्स होगा। राजेंद्र नगर विधानसभा सीट पर हुए उपचुनाव में 43.67 प्रतिशत पुरुष और 43.86 फीसदी महिला मतदाताओं ने मतदान किया।
यह सीट हाल ही में राज्यसभा सदस्य चुने गए आम आदमी पार्टी (आप) के नेता राघव चड्ढा के इस्तीफे के कारण खाली हुई थी। उपचुनाव के दौरान दर्ज किया गया मतदान प्रतिशत 2020 के चुनावों में दर्ज आंकड़ों से काफी कम है, जब राजेंद्र नगर में 58.27 प्रतिशत मतदाताओं ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया था। उपचुनाव में कुल 1,64,698 मतदाता मतदान के पात्र थे। राजेंद्र नगर उपचुनाव में मुख्य रूप से ‘आप’ प्रत्याशी दुर्गेश पाठक और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के उम्मीदवार राजेश भाटिया के बीच मुकाबला माना जा रहा है। भाटिया क्षेत्र से पार्षद भी रह चुके हैं।
वहीं, कांग्रेस ने पार्षद प्रेम लता को मैदान में उतारा है। ‘आप’ और भाजपा ने विश्वास जताया है कि उनके उम्मीदवार भारी अंतर से जीत दर्ज करेंगे। अधिकारियों ने पहले बताया था कि 2020 में कोविड-19 महामारी के फैलने के बाद दिल्ली में यह पहला चुनाव था और 24 उपचाराधीन मतदाता भी उपचुनाव में अपने मताधिकार का इस्तेमाल करने पहुंचे थे।
एक वरिष्ठ अधिकारी ने मतदान के दिन कहा था कि 21 स्थानों पर 13 सहायक केंद्रों सहित कुल 190 मतदान केंद्र बनाए गए हैं और कुछ मतदान केंद्रों पर ईवीएम में ‘‘मामूली खराबी’’ की सूचना मिली थी, जिसके बाद वहां तुरंत दूसरी ईवीएम की व्यवस्था की गई। मास्क और दस्ताने पहनने जैसे सभी सुरक्षा उपायों का पालन करते हुए मतदाताओं ने मतदान किया।
उपचाराधीन मरीजों को अंतिम एक घंटे में मतदान करने की अनुमति दी गई थी। राजेंद्र नगर उपचुनाव में मतदान 2017 में हुए राजौरी गार्डन उपचुनाव (46.5 प्रतिशत) और बवाना उपचुनाव (44.8 प्रतिशत) में दर्ज मतदान प्रतिशत से भी कम था।

ध्यान भटकाने की कला में ‘महारत’ हासिल: गांधी

ध्यान भटकाने की कला में ‘महारत’ हासिल: गांधी
अकांशु उपाध्याय  
नई दिल्ली। कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हुए कहा कि उन्हें ‘ध्यान भटकाने की कला’ में ‘महारत’ हासिल है लेकिन इससे सर्वकालिक उच्च बेरोजगारी दर, 30 साल के उच्च थोक मूल्य सूचकांक (डब्ल्यूपीआई) और भारतीय जीवन बीमा निगम (एलआईसी) के 17 अरब डॉलर के अवमूल्यन जैसी विपदाओं पर पर्दा नहीं डाला जा सकता। उन्होंने कहा कि जब भारतीय संघर्ष कर रहे हैं, तब मोदी ध्यान भटकाने की अगली योजना बनाने में व्यस्त हैं।
पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष ने ट्वीट किया, “प्रधानमंत्री को ‘ध्यान भटाने की कला’ में हासिल महारत इन विपदाओं को छिपा नहीं सकता-डॉलर के मुकाबले भारतीय रुपया 78 पर; एलआईसी का 17 अरब डॉलर का अवमूल्यन; डब्ल्यूपीआई मुद्रास्फीति 30 वर्ष के उच्चतम स्तर पर; बेरोजगारी दर सर्वकालिक उच्चतम स्तर पर; डीएचएफएल द्वारा अब तक की सबसे बड़ी बैंक धोखाधड़ी।” राहुल अर्थव्यवस्था को संभालने के मोदी सरकार के तौर-तरीकों की अक्सर आलोचना करते आए हैं। उन्होंने केंद्र से युवाओं को रोजगार देने का आह्वान भी किया है।

1 जुलाई से प्लास्टिक उपयोग, जुर्माने का प्रावधान

1 जुलाई से प्लास्टिक उपयोग, जुर्माने का प्रावधान
पंकज कपूर 
देहरादून। उत्तराखंड में सिंगल यूज प्लास्टिक पर पूरी तरह रोक लग जाएगी शहरी विकास विभाग में सभी निकायों को 28 जून तक खुद को सिंगल यूज प्लास्टिक मुक्त घोषित करने को कह दिया है 1 जुलाई से प्लास्टिक का उपयोग करने पर ₹5000 तक जुर्माना वसूल किया जाएगा।
केंद्रीय वन एवं पर्यावरण मंत्रालय पिछले साल ही सिंगल यूज प्लास्टिक के उत्पादन आयात भंडारण बिक्री और इस्तेमाल पर रोक लगा चुका है राज्य के 66 निकाय सिंगल यूज प्लास्टिक पर रोक की घोषणा कर चुके हैं शेष निकायों को 28 जून तक ऐसा करने को कहा गया है एक जुलाई से निकायों को चालान और जब्ती का अभियान चलाने को कहा गया है ।
सिंगल यूज प्लास्टिक इस्तेमाल करने पर अधिकतम ₹5000 तक का चालान हो सकता है हालांकि कुछ मामले में कोर्ट ने प्रतिबंधित प्लास्टिक पॉलीथिन के इस्तेमाल पर प्रति प्रति ₹500 तक जुर्माना भी लगाया है अभी 75 माइक्रोन से पतली कैरी बैग पर रोक लगाई गई हैप्रभारी सचिव शहरी विकास वीके सुमन ने कहा है कि ईयर बर्ड्स कैंडी स्टिक प्लास्टिक के झंडे  थर्माकोल की सजावट सामग्री कप प्लेट चम्मच कांटे मिठाई के डब्बे मैं यूज होने वाली फिल्म सिगरेट पैकेट 100 माइक्रोन से कम मोटाई वाले बैनर इन सभी पर रोक रहेगीयह पहली बार नहीं है कि जब उत्तराखंड में पॉलीथिन पर रोक लगाई जा रही है इससे पहले भी त्रिवेंद्र सिंह रावत सरकार में भी पॉलीथिन पर रोक लगाई गई थी और उसका कड़ाई से पालन भी करवाया जा रहा था लेकिन जैसे ही कोविड-19 शुरू हुआ फिर धड़ल्ले से पॉलिथीन मार्केट में उतर आया था।
निदेशालय ने सभी निगम, निकायों को पत्र भेजकर पुरानी 50 माइक्रोन की गाइडलाइंस में संशोधन करते हुए नया नोटिफिकेशन जारी करने को कहा है। 30 जून के बाद प्रदेश में 75 माइक्रोन तक की प्लास्टिक प्रतिबंधित रहेगी।
प्रदेश में एक जुलाई से न तो प्लास्टिक की छड़ी वाले गुब्बारे बिकेंगे और न ही ईयर बड, स्ट्रॉ, चम्मच, चाकू, प्लेट बिकेंगी। केंद्रीय वन एवं पर्यावरण मंत्रालय के आदेश के बाद शहरी विकास निदेशालय ने इस संबंध में निर्देश जारी किए हैं। निर्देशों के तहत 13 निकायों ने प्रतिबंध से संबंधित नोटिफिकेशन जारी कर दिए हैं।
नगर निगम हल्द्वानी द्वारा सिंगल यूज प्लास्टिक से निर्मित उत्पादों के विनिर्माण आयात भंडारण वितरण बिक्री और उपयोग पर 30 जून से पूर्ण रूप से प्रतिबंध लगा दिया गया है।
इस संदर्भ में नगर निगम हल्द्वानी काठगोदाम द्वारा निम्नलिखित एकल प्रयोग प्लास्टिक वस्तुओं के विनिर्माण आयात भंडारण वितरण बिक्री और उपयोग का निषेध किया जाएगा इसमें प्लास्टिक स्टिक युक्त इयरबड्स गुब्बारों के लिए प्लास्टिक की डडियां, प्लास्टिक के झंडे, कैंडी स्टिक, आइसक्रीम की डंडी, सजावट वाली सामग्री, गिलास, कांटे, चम्मप, मिठाई के डिब्बे वाली फिल्में, निमंत्रण कार्ड, सिगरेट पैकेट, प्लास्टिक पीवीसी किसी भी प्रतिष्ठित दुकान व्यक्ति व्यापारी द्वारा उपरोक्त का उल्लंघन किए जाने पर नगर निगम द्वारा धाराओं के अनुसार कार्रवाई की जाएगी।

‘हिंदुत्व एजेंडे’ पर भाजपा आक्रामक नहीं है

 ‘हिंदुत्व एजेंडे’ पर भाजपा आक्रामक नहीं है
अकांशु उपाध्याय
नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एपी अब्दुल्लाकुट्टी का कहना है कि उनकी पार्टी की विचारधारा ‘एकात्म मानव दर्शन’ (एकात्म मानववाद) पर आधारित है, जो किसी भी लोकतंत्र और धर्मनिरपेक्षता से बड़ी है। एक इंटरव्यू में अब्दुल्लाकुट्टी ने इस बात का खंडन किया कि भाजपा अपने ‘हिंदुत्व एजेंडे’ को लेकर अधिक आक्रामक है, जिससे अन्य समुदाय असुरक्षित महसूस कर रहे हैं।
अब्दुल्लाकुट्टी ने कहा, भाजपा सरकार देश को विकास की नई ऊंचाइयों पर ले जा रही है। देश ने पिछले साल ‘सबका साथ, सबका विकास और सबका प्रयास’ के आदर्श वाक्य के साथ जबरदस्त विकास देखा है। भाजपा की विचारधारा ‘एकात्म मानव दर्शन’ पर आधारित है। तथ्यों के आधार पर मैं कह सकता हूं कि भाजपा की विचारधारा ‘हिंदुत्व’ नहीं बल्कि ‘भारत-त्व’ है, जो किसी भी विचारधारा, किसी भी लोकतंत्र और किसी भी धर्मनिरपेक्षता से बड़ी है।
उन्होंने कहा, भाजपा सरकार केवल देश को महान बनाने पर ध्यान दे रही है। हमारी सरकार ‘एक भारत श्रेष्ठ भारत’ के एकमात्र उद्देश्य या एजेंडे के साथ काम कर रही है और सभी को एक साथ लेकर इसे हासिल करने का हरसंभव प्रयास कर रही है। मोदी सरकार में ‘जाति, पंथ या धर्म’ के नाम पर कोई भेदभाव नहीं है। हमारा एकमात्र एजेंडा ‘एक भारत श्रेष्ठ भारत’ है और कुछ नहीं।
अब्दुल्लाकुट्टी ने दावा किया कि उत्तर भारतीय मुसलमानों के मुद्दे दक्षिण भारत के मुसलमानों से अलग हैं। उन्होंने कहा, वर्ष 2014 में केंद्र में भाजपा सरकार के गठन से पहले उत्तर भारतीय मुसलमानों के मुद्दे गरीबी और पिछड़ापन थे, जो दक्षिण भारतीय मुसलमानों का मुद्दा नहीं है। साल 2014 में नरेंद्र मोदी सरकार के गठन के बाद, चीजें बदल रही हैं। कई सामाजिक कल्याणकारी योजनाओं के माध्यम से उत्तर प्रदेश और अन्य उत्तरी राज्यों में मुसलमानों की स्थिति में सुधार हुआ है।
उन्होंने कहा कि कुछ राजनीतिक दलों ने विशेष रूप से उत्तर भारत में मुसलमानों का शोषण किया है और उन्हें केवल वोट बैंक के रूप में माना है। भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष ने कहा, कांग्रेस, बहुजन समाज पार्टी (बसपा), समाजवादी पार्टी (सपा), तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) और वाम दलों ने केवल मुसलमानों को वोट बैंक के रूप में माना है और उनकी सामाजिक या आर्थिक स्थिति में सुधार के लिए कभी कुछ नहीं किया है। इन राजनीतिक दलों ने मुसलमानों को विकास से वंचित रखा है।
उन्होंने दावा किया कि केंद्र में नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार बनने के बाद स्थिति में थोड़ा बदलाव आया है। उन्होंने कहा, नरेंद्र मोदी कई पहलों के माध्यम से किसी भी अन्य भारतीय की तरह हर गुजरते दिन के साथ उनके (मुसलमान) जीवन को बेहतर बना रहे हैं। अब मुसलमानों को प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत घर, शौचालय, पांच लाख रुपये का स्वास्थ्य बीमा और बेहतर बुनियादी ढांचे के साथ सरकारी लाभ मिल रहा है। मोदी सरकार की योजनाओं का लाभ कट्टर भाजपा विरोधी मतदाताओं सहित सभी तक पहुंच रहा है।

थियेटराइजेशन के तहत सेना की इकाइयां शामिल

थियेटराइजेशन के तहत सेना की इकाइयां शामिल
अकांशु उपाध्याय 
नई दिल्ली। भारतीय वायुसेना प्रमुख वी.आर. चौधरी ने रविवार को कहा कि ‘थियेटराइजेशन’ योजना पर चल रहे विचार-विमर्श में निश्चित तौर प्रगति हुई है और भारतीय वायुसेना व्यापक राष्ट्रीय युद्धक क्षमता में बढ़ोतरी के लिए तीनों सेना (थल, वायु, नौसेना) के एकीकरण के लिए पूरी तरह से प्रतिबद्ध है। एयर चीफ मार्शल चौधरी ने ‘पीटीआई-भाषा’ को दिए साक्षात्कार में कहा कि वायुसेना को उम्मीद है कि जब कभी अंतिम संरचना सामने आएगी, वह मौजूदा और भविष्य के खतरों से निपटने में सशक्त, मजबूत और सक्षम होगी। उन्होंने कहा, ‘‘भारतीय सशस्त्र बलों के ‘थियेटराइजेशन’ की प्रक्रिया इस समय विमर्श की अवस्था में है।
कुछ मुद्दे हैं, जिनपर चर्चा हो रही है और निश्चित तौर पर इन पहलुओं पर प्रगति हुई है।’’ तीनों सेना के एक संयुक्त कमान को थियेटर कमान की संज्ञा दी जाती है और ‘थियेटराइजेशन’ योजना के तहत प्रत्येक थियेटर कमान में थलसेना, नौसेना और वायुसेना की विशिष्ट इकाइयां शामिल होंगी तथा एक अभियान कमांडर के नेतृत्व में विशेष भौगोलिक क्षेत्र में उत्पन्न चुनौतियों से एकल यूनिट के तौर पर निपटेंगी। मौजूदा समय में थलसेना, नौसेना और वायुसेना के अलग-अलग कमान हैं। शुरुआत में वायु रक्षा कमान और समुद्री थियेटर कमान गठित करने की योजना थी।
वायुसेना प्रमुख ने कहा, ‘‘विचार-विमार्श चल रहा है। हमें उम्मीद है कि अंतिम संरचना जब तैयार होगी तो वह शक्तिशाली, मजबूत और मौजूदा तथा भविष्य की चुनौतियों से निपटने में सक्षम होगी।’’ उन्होंने कहा, ‘‘इसलिए, जो संयुक्त संरचना तैयार होगी, वह हमारे पर्यावरण के लिए खास होगी और पर्याप्त विचार-विमर्श कर युद्ध में (सेना के) प्रत्येक अंग के कार्य और भूमिका की दृष्टि से स्पष्ट होगा।’’ वायुसेना प्रमुख ने कहा कि जब संयुक्त संरचना के गठन के विस्तृत पहलुओं की बात आती है तो तीनों सेनाएं ‘‘एकमत’’ हैं।
उन्होंने कहा, ‘‘वायुसेना व्यापक राष्ट्रीय युद्धक क्षमता में परिवर्तनकारी बदलाव लाने और इसमें बढ़ोतरी के लिए एकीकरण के प्रति कटिबद्ध है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘हमें भरोसा है कि सशस्त्र बल राष्ट्र की महत्वाकांक्षाओं पर खरे उतरेंगे और ऐसे मॉडल के साथ आएंगे, जो भविष्य के खतरों से निपटने में सक्षम होगा।’’ वायुसेना प्रमुख ने यह बात उस वक्त कही जब कहा गया कि ऐसी धारणा है कि वायुसेना ‘थियेटराइजेशन’ की पहल को लेकर बहुत उत्साहित नहीं है।

हेमंत सरकार चल नहीं रही, रेंग रही है: दास

हेमंत सरकार चल नहीं रही, रेंग रही है: दास
इकबाल अंसारी 
रांची। भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि राज्य की वर्तमान हेमंत सरकार न चल रही है, नहीं रेंग रही है; सिर्फ नींद में विभोर है।  दास ने आज यहां कहा कि और जो सरकार नींद में विभोर हो उससे संवेदना की उम्मीद करना पानी गर्म कर गाढ़ा करने की नाहक कोशिश भर है।उन्होंने राज्य की वर्तमान स्थिति पर गंभीर चिंता प्रकट करते हुए कहा कि राज्य में बालू और गिट्टी की अनुपलब्धता राज्य के विकास को और पीछे ढकेल रही है। दरअसल इसके लिए राज्य सरकार जिम्मेदार है। 2020 से न तो बालू घाटों की बंदोबस्ती हुई है न पत्थर खदानों की निलामी।
सरकार के संरक्षण में अवैध बालू एवं गिट्टी का कारोबार की खबर समाचार पत्रों में आती रही है। कहा जाता है कि अवैध बालू एवं गिट्टी बांग्लादेश तक भेजा गया है। अब ईडी द्वारा इसकी जांच-पड़ताल करने एवं लगातार समाचार पत्रों में धंधे का खुलासा होने पर दिखावे के लिए छापेमारी की जा रही है। सरकार अगर दूरदर्शी सोच रखती और समय पर बालू घाटों की बंदोबस्ती एवं पत्थर खदानों की निलामी की गयी होती तो आज बालू-गिट्टी के लिए हाहाकार नहीं होता।
पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री आवास योजना, मुख्यमंत्री ग्राम्य सेतु योजना और अन्य सरकारी योजनाओं का निर्माण कार्य बालू गिट्टी के आभाव में दम तोडऩे वाली है। बालू और गिट्टी की कमी के कारण ग्रामीण क्षेत्रों में जहाँ प्रति दिन चौदह से पंद्रह सौ आवास बन रहे थे, वहीं अब यह घटकर पांच सौ से नीचे पहुँच गया है ।इसी प्रकार मुख्यमंत्री ग्राम्य सेतु योजना के तहत बनने वाली पुल-पुलिया का निर्माण कार्य लगभग ठप है। जहाँ काम हो रहा है वहां काम करने में काफी मुश्किलें आ रही हैं। सरकारी निकम्मेपन की वजह से रियल एस्टेट का कारोबार लगभग ठप है । जो लोग निजी घर के निर्माण का सपना देख रहे थे, उनका सपना टूट कर बिखर रहा है।

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन 

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण  

1. अंक-261, (वर्ष-05)
2. सोमवार, जून 27, 2022
3. शक-1944, आषाढ़, कृष्ण-पक्ष, तिथि-चतुर्दशी, विक्रमी सवंत-2079।
4. सूर्योदय प्रातः 05:22, सूर्यास्त: 07:15।
5. न्‍यूनतम तापमान- 29 डी.सै., अधिकतम-41+ डी.सै.। उत्तर भारत में बरसात की संभावना।
6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है।
7.स्वामी, मुद्रक, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम व शिवांशु, (विशेष संपादक) श्रीराम व सरस्वती (सहायक संपादक) संरक्षण-अखिलेश पांडेय, ओमवीर सिंह, वीरसेन पवार, योगेश चौधरी आदि के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी।
8. संपर्क व व्यवसायिक कार्यालय- चैंबर नं. 27, प्रथम तल, रामेश्वर पार्क, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102।
9. पंजीकृत कार्यालयः 263, सरस्वती विहार लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102
http://www.universalexpress.page/
www.universalexpress.in
email:universalexpress.editor@gmail.com
संपर्क सूत्र :- +919350302745--केवल व्हाट्सएप पर संपर्क करें, 9718339011 फोन करें।
           (सर्वाधिकार सुरक्षित)

अरक पंचायत में वार्षिक आम सभा का आयोजन

अरक पंचायत में वार्षिक आम सभा का आयोजन  अविनाश श्रीवास्तव  चक्की। प्रखंड की अरक पंचायत में वार्षिक आम सभा का आयोजन किया गया। जि...