शनिवार, 18 जुलाई 2020

भारत को प्रभावित कर सकता है चीन

नई दिल्ली/ बीजिंग। चीन ने कोविड संकट के दौरान खराब हुई छवि को दुरुस्त करने और अमेरिकी रणनीतिक घेरेबन्दी का जवाब देने के लिए अपना खजाना खोल दिया है। कूटनीतिक जानकारों का कहना है कि चीन की कवायद भारत को कई जगहों पर प्रभावित कर सकती है।


इसलिए सतर्कता से अपनी कूटनीति को आगे बढ़ाना होगा। चीन की नजर अमेरिका से प्रतिस्पर्धा में उसके सहयोगियों को तोड़ने की है। कूटनीतिक जानकार मानते हैं कि भारत को सतर्कता से अपने सहयोगियों से संपर्क बनाए रखने की जरूरत है। जिससे कोविड संकट के दौरान मिली रणनीतिक बढ़त और भरोसे को भारत अपने पक्ष में भुना सके।              


आपने पहले नहीं देखा होगा ये नजारा

सोशल मीडिया पर कई वीडियो हर रोज वायरल होते रहते हैं। इनमें से कुछ वीडियो ऐसे होते हैं जिन्हे देखकर दिल खुश हो जाता है। खासकर जानवरों से जुड़े वीडियो लोग काफी पसंद करते हैं। ऐसा ही एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें एक गिलहरी बोतल देख कर हाथ उठाते हुए पानी मांगती नजर आई। अब प्यास तो इंसानों को भी लगती है और जानवरों को भी बस हम बोल सकते हैं और वो सिर्फ इजहार कर सके है। भारतीय प्रशासनिक सेवा अधिकारी अवनीश शरन ने अपने ट्विटर हैंडल से इस वीडियो को शेयर किया है। उन्होंने कैप्शन में लिखा, ‘ऐसा खूबसूरत वीडियो मैंने कभी नहीं देखा, यह व्हाट्सएप के जरिए मिला।’ वीडियो में साफ देखा जा सकता है कि जैसे ही गिलहरी को पानी की बोतल से पानी पिलाया जाता है, वो बड़े चाव से पानी पी रही थी। इस दौरान कुछ लोगों ने इस पल का वीडियो बना लिया। इस गिलहरी की क्यूटनेस देख हर कोई हंस रहा है। वहीं, कुछ लोग इसे दुर्भाग्यपूर्ण भी बता रहे हैं कि गिलहरी को भी पानी मांगना पड़ रहा है। वीडियो पर काफी लोगों ने कमेंट किए हैं। इस वीडियो को सोशल मीडिया पर काफी पसंद किया जा रहा है और यह काफी ज्यादा वायरल हो रहा है।             


मच्छरों के काटने से नहीं फैलता कोरोना

वाशिंगटन। व्हाट्सएप के दौर में हर दिन आपको ऐसे दर्जनों मैसेज मिलते हैं जिनकी वजह से आप अनावश्यक रूप से परेशान हो जाते हैं। इनमें से कुछ मैसेज तथ्यों पर आधारित हो सकते हैं लेकिन ज़्यादातर मैसेज किसी खुराफाती दिमाग की देन होते हैं। गाज़ियाबाद 365 का प्रयास है कि वह अपने पाठकों को कोरोना के संबन्धित भ्रांतियों के बारे में बताए। पिछले कई महीनों से हमारे पाठक यह जानना चाह रहे थे कि क्या मच्छरों के काटने से भी कोरोना का संक्रमण फैलता है? रिसर्च में पता चला है कि मच्छर काटने से कोरोना के संक्रमण का कोई खतरा नहीं है। इस साल मार्च में विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भी यहीं बात कही थी।


अमेरिका के कैनसस यूनिवर्सिटी ने मच्छरों को लेकर रिसर्च किया। इसकी रिपोर्ट के मुताबिक कोरोना फैलाने वाला SARS-CoV-2 वायरस मच्छरों के काटने से नहीं फैल सकता है। वैज्ञानिकों ने मच्छर की तीन प्रजातियां – एडीज एजिप्टी, एडीस अल्बोपिक्टस और क्यूलेक्स क्विनकैफैसिअसस पर रिसर्च किया। मच्छर के ये तीनों प्रकार चीन में मौजूद है और चीन से ही कोरोना की शुरुआत हुई थी।


मच्छर के काटने से कोरोना भले ही न फैलता तो लेकिन इससे आपको और बहुत सी बीमारियाँ हो सकती हैं। इसलिए बेहतर होगा कि आप अपने आसपास पानी जमा न होने दें और मच्छरों से बच कर रहें।


वायरसः ब्राजील में 77,851 लोगों की मौत

रियो डि जेनेरो। (स्पूतनिक) वैश्विक महामारी कोरोना वायरस (कोविड-19) से गंभीर रूप से जूझ रहे लैटिन अमेरिकी देश ब्राजील में पिछले 24 घंटाें के दौरान कोरोना संक्रमण के 34,177 नये मामले सामने आने के साथ ही संक्रमितों की संख्या 20 लाख का आंकड़ा पार कर 20,46,328 हो गयी है।


ब्राजील के स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से शनिवार को जारी आंकड़ों के मुताबिक देश में पिछले 24 घंटों के दौरान इस महामारी से 1163 लोगों की मौत होने से मृतकों की संख्या 77 हजार के आंकड़े को पार कर 77,851 पहुंच गयी है।


ब्राजील में 13,97,000 से अधिक लोग कोरोना संक्रमण से पूरी तरह ठीक भी हुए हैं। इससे एक दिन पहले ब्राजील में कोरोना संक्रमण के 45,403 नये मामले सामने आए थे और कोविड-19 से 1322 लोगों की मौत हुई थी। एक दिन पहले की तुलना में ब्राजील में कोरोना संक्रमण के नये मामलों में कमी आई है।


अमेरिका की जॉन हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी के विज्ञान एवं इंजीनियरिंग केन्द्र (सीएसएसई) की ओर से जारी किए गए ताजा आंकड़ों के मुताबिक कोरोना संक्रमिताें की संख्या के मामले में ब्राजील (20.46 लाख) पहले से ही अमेरिका (36.38 लाख) के बाद दूसरे स्थान पर है। कोरोना के कारण हुई मौतों की संख्या वाली सूची में भी ब्राजील अमेरिका के बाद दूसरे स्थान पर आ गया है।


ब्राजील के राष्ट्रपति जेयर बोलसोनारो लगातार कोरोना वायरस को एक सामान्य फ्लू बताते आए हैं जिसके कारण उन्हें कड़ी आलोचना का सामना करना पड़ा है। श्री बोलसोनारो स्वयं भी कोरोना से संक्रमित हो गए हैं। वह अपने प्रतिनिधिमंडल के साथ मार्च में अमेरिका गए थे जिसके बाद उनके प्रतिनिधिमंडल में से 20 सदस्य कोरोना संक्रमित पाए गए थे। गौरतलब है कि ब्राजील में कोरोना संक्रमण का पहला मामला 26 फरवरी को सामने आया था।              


दुर्लभ रोगः बच्चे के आंख और कान नहीं

हावड़ा। पश्चिम बंगाल के हावड़ा में एक महिला ने ऐसे बच्चे (Baby) को जन्म दिया है, जिसके बारे में सुनकर आपकी आंखें नम हो जाएंगी। इस बच्चे की न तो आंखें हैं और न ही कान। डॉक्टरों के मुताबिक वो एक बेहद दुर्लभ बीमारी (Rare Disease) से ग्रसति है, जिसे विज्ञान की भाषा में हार्लेक्विन इक्थियोसिस (Harlequin Ichthyosis) कहा जाता है। इस बीमारी से ग्रसित बच्चे के पूरे शरीर पर मोटी त्वचा की परत नजर आती है। लिहाजा बच्च के शरीर में न तो आंखों का विकास हुआ है, न ही कान का। इसके साथ ही बच्चे के शरीर पर ऐसे निशान दिखते हैं, जैसे किसी ने त्वचा को चाकू से चीर दिया हो।


फ्री प्रेस जरनल में छपी रिपोर्ट के मुताबिक, गायनोलॉजिस्ट डॉक्टर कमल की देखरेख में इस महिला की डिलीवरी कराई गई। उन्होंने कहा कि नासोगैस्ट्रिक ट्यूब का इस्तेमाल कर बच्चे को दूध पिलाने की कोशिश नाकाम रही। उन्होंने कहा कि इस बच्चे में कई जन्मजात बीमारियां है। डॉक्टर कमल ने कहा, ‘ये महिला की पांचवीं प्रेगनेंसी थी। उसके पहले से तीन बच्चे हैं, और उनका मिसकैरेज भी हुआ था। वो प्रेगनेंसी के 9 वें महीने में पेट में दर्द के साथ मेरे पास आई। हमने देखा कि उनके पेट में काफी सूजन था। हालांकि सीटी स्कैन के दौरान कुछ भी पता नहीं चला था।


डॉक्टर कमल के मुताबिक उन्हें बाद में पता चला कि महिला के एम्नियोटिक बैग के आसपास एक और बैग दिख रहा था। उस समय उन्हें लगा कि वे क्लॉटिंग है. डॉक्टरों ने ये भी संदेह जताया था कि वो एक कोरिओमैनिओटिक सेपेरेशन है। डॉक्टर ने कहा। ‘ये बीमारी दुर्लभ है, और दुनिया भर में सिर्फ कुछ ही मामलों को दर्ज किया गया है। दुनिया भर में शायद ऐसे 200 से 250 मामले सामने आए हैं। इससे पहले भारत में ऐसे मामले दिल्ली, पटना और महाराष्ट्र के नागपुर से आए है।


आर्मी के एक्शन से बौखलाए आतंकवादी

श्रीनगर। अमरनाथ यात्रा को निशाना बनाने के लिए आतंकवादियों के साजिश रचने के बारे में जम्मू कश्मीर में सुरक्षा बलों को खुफिया सूचना मिली है। थल सेना के एक अधिकारी ने शुक्रवार को यह जानकारी दी। हालांकि, उन्होंने जोर देते हुए कहा कि यात्रा की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए पूरी व्यवस्था की गई है।


अधिकारी ने कहा, शुक्रवार की मुठभेड़ में जैश ए मोहम्मद के एक स्वयंभू कमांडर सहित तीन आतंकवादियों का मारा जाना एक मुंहतोड़ जवाब है। टू सेक्टर के कमांडर, ब्रिगेडियर विवेक सिंह ठाकुर ने दक्षिण कश्मीर में कहा, “इस बारे में खुफिया सूचना है कि आतंकवादी यात्रा को निशाना बनाने की अपनी पूरी कोशिश करेंगे, लेकिन इसके यात्रा के शांतिपूवर्क संपन्न होने की व्यवस्था की गई है। हम अमरनाथ यात्रा बगैर किसी विघ्न के शांतिपूर्ण तरीके से संपन्न कराने के लिए प्रतिबद्ध हैं और सुरक्षा स्थिति नियंत्रण में बनी रहेगी।


ब्रिगेडियर ठाकुर ने कहा कि राष्ट्रीय राजमार्ग-44 के एक हिस्से का उपयोग यात्री करेंगे, जो संदेनशनील बना रहेगा. यह हिस्सा थोड़ा संवेदनशील है। यात्री सोनमर्ग (गंदेरबल) तक जाने के लिए इस रास्ते का इस्तेमाल करेंगे और यह (बलटाल) एकमात्र मार्ग है जो अमरनाथ गुफा जाने के लिए चालू रहेगा।


21 जुलाई से शुरू हो सकती है अमरनाथ यात्रा
माना जा रहा है कि इस साल अमरनाथ यात्रा 21 जुलाई से 03 अगस्त के बीच चलेगी। अभी तक मिली जानकारी के मुताबिक, 55 साल से कम उम्र के श्रद्धालुओं को ही इस बार यात्रा में शामिल होने की अनुमति मिलेगी। इस साल बच्चे और बुजुर्ग पवित्र यात्रा में शामिल नहीं हो सकेंगे। श्री अमरनाथ श्राइन बोर्ड के मुताबिक, अमरनाथ यात्रा में शामिल होने वाले श्रद्धालुओं को अपना कोरोना निगेटिव प्रमाण पत्र भी साथ रखना होगा। वहीं जम्मू बेस कैंप में श्रद्धालुओं की स्क्रीनिंग होगी। इसके साथ ही साधुओं को छोड़कर सभी श्रद्धालुओं को ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कराना होगा।


अधिकारियों पर लापरवाही का आरोप

अतुल त्यागी
उत्तर प्रदेश के जनपद हापुड़ के थाना बहादुरगढ़ क्षेत्र में विधुत कर्मी की लाईन पर कार्य करते समय करंट लगने से हुई मौत परिजनो ने विधुत विभाग पर लगाया लापरवाही का आरोप


हापुड़। जनपद की तहसील गढ़मुक्तेश्वर के थाना बहादुरगढ़ क्षेत्र के डेहरा रामपुर में लाइन पर काम करते समय विद्युत कर्मी दिलशाद पुत्र बाबू निवासी शाहपुर फगौता थाना पिलखुवा करंट लगने से गंभीर रूप से घायल हो गया परिजनों ने विद्युत विभाग सुपरवाईजर व अधिकारियों पर लगाया लापरवाही का आरोप जानकारी के अनुसार डेहरा रामपुर में बिजली विभाग के तारों को बदला जा रहा था। जहां दिलशाद पुत्र बाबू लाइन पर कार्य कर रहा था। जैसे ही उसने पहला जंपर कांट कर दूसरे जंपर से हाथ लगाया तो करंट लगने से गंभीर रूप से घायल हो गया सूचना पर मौके पर पहुंचे बहादुरगढ़ थाना प्रभारी नीरज कुमार पुलिस बल के साथ घायल दिलशाद के शव को लेकर गढ़मुक्तेश्वर सीएससी पहुंचे जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया जिस सुपरवाइजर की देखरेख में दिलशाद कार्य कर रहा था उस सुपरवाइजर कपिल ने बताया कि दिलशाद लाईन पर  कार्य करने गया उसमें अचानक करंट आगया तत्काल उसकी मौके पर ही मौत हो गई लेकिन परिजन इस बात को मानने को तैयार नहीं है। परिजनों का कहना है दिलशाद की मौके पर काम करते हुए मौत हुई कुछ संदिग्ध प्रतीत हो रहा है कि दिलशाद लाइन पर कार्य करने गया तब तक शड डाउन  नहीं लिया गया जैसे ही करंट लगने से दिलशाद की मौत हुई तत्काल सड डाउन ले लिया गया सुपरवाइजर की बातों से ऐसा ही आभास हो रहा था फगौता  निवासी बलराम नाम के ठेकेदार के साथ दिलशाद कार्य कर रहा था जो पिछले 3 सप्ताह पहले अपने घर से आया था और आज लगभग एक बजकर 15 मिनट पर सुपरवाइजर के अनुसार दिलशाद की करंट लगने से मौत हो गई दिलशाद के चाचा ने बताया कि विद्युत विभाग की घोर लापरवाही के कारण मेरे भतीजे दिलशाद की मौत हुई बिजली विभाग के किसी भी अधिकारी  सुपरवाइजर व ठेकेदार ने उन्हें सूचना नहीं दी उन्हें सूचना अस्पताल से बहादुरगढ़ थाने की पुलिस ने दी है उसके चाचा दिलशाद का कहना है दिलशाद को लाईन पर जंफर काटने  भेजा गया था तो उसे ना तो कोई दस्ताने दिए गये नाहीं पैरों में जूते पहनने को दिए गये जबकि लाइन पर कार्य करने के लिए विद्युत कर्मी को जूते दस्ताने आदि दिए जाते हैं ताकि कार्य करते समय वह बिजली के करंट से बचसके  लेकिन बिजली विभाग के सुपरवाइजर व ठेकेदार ने इस तरह की कोई सामग्री नहीं दी जिससे उसकी लाइन पर कार्य करते हुए मौत हो गई परिजनों का रो रो कर बुरा हाल दिलशाद के पिताजी की कुछ समय पहले मौत हो गई थी दिलशाद तीन भाई हैं घर में सबसे बड़ा कमाने वाला दिलशाद ही था दो छोटे भाई हैं परिवार पर दुख का पहाड़ टूट पड़ा है घर में कोई कमाने वाला नहीं है उसकी माता भी बीमार रहती है उसके चाचा ने बताया बिजली विभाग की घोर लापरवाही है उसका आरोप उन्होंने स्पष्ट शब्दों में लगाया उन्होंने कहा कि अगर बिजली विभाग की लापरवाही नहीं होती तो बिजली विभाग ने हमें सूचना क्यों नहीं दी हमें सूचना बहादुरगढ़ पुलिस ने गढ अस्पताल से दी जबकि दिलशाद जिस ठेकेदार या सुपरवाइजर के अंतर्गत कार्य कर रहा था उन्हें दिलशाद की मौत की सूचना हमें देनी चाहिए थी लेकिन उन्होंने सूचना नहीं दी बल्कि बहादुरगढ थाने की पुलिस ने हमे फोन पर बताया कि दिलशाद की करंट लगने से मौत हो गई प्रभारी नीरज कुमार ने बताया कि तहरीर के आधार पर जांच की जा रही है लापरवाही सामने आने पर उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी।


अरबपतियों को दिया वैक्सीन का टीका

मास्को। दुनिया में कोरोना वैक्सीन बनाने के लिए कई देश जी-जान से लगे हुए हैं। इस वैक्सीन के बनने के बाद ही शायद पहले की तरह दुनिया नॉर्मल हो पाएगी। साथ ही जो भी देश इस वायरस का इंजेक्शन पहले बनाएगा, उसका दुनिया में रुतबा भी बढ़ जाएगा। इस कारण सभी देश इसके इंजेक्शन को बनाने के लिए शिद्दत से लगे हुए हैं। ऑक्सफ़ोर्ड द्वारा बननाया जा रहा इंजेक्शन एक हद तक सफल भी बताया जा रहा है। इस बीच बीते दिनों यूके ने रूस पर इंजेक्शन बनाने के तरीके को चुराने का आरोप लगाया था। इसके कुछ ही दिन बाद रूस के एक अरबपति कपल ने दावा किया है कि उन्होंने कोरोना  वैक्सीन लगवा ली है। इसके बाद अब दो तरह की चर्चा हो रही है। पहली कि रूस ने कोरोना का इलाज ढूंढ लिया है और दूसरा कि क्या रूस ने इस इंजेक्शन को बनाया है या ये यूके द्वारा बनाए इंजेक्शन की चोरी है। कपल के दावे के बाद दोनों की काफी चर्चा हो रही है।             


शामलीः 40 संक्रमित मिलने से सनसनी

शामली में फूटा कोरोना बम, 40 पॉजिटिव मिलने से सनसनी


भानु प्रताप उपाध्याय


छह, आठ वर्ष के दो बच्चों समेत शहर के 22 लोग पॉजिटिव
शहर के जैन स्ट्रीट के 13 और जवाहर गंज मंडी में आठ मिले


शामली। जनपद में एक ही दिन में रिकार्ड 40 लोगों की कोरोना पॉजिटिव रिपोेर्ट आने से कोरोना बम फूट पड़ा। एक साथ 40 लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आने की सूचना से लोगों में सनसनी फैल गई। सर्वाधिक शामली शहर के 22 पॉजिटिव में छह और आठ वर्ष के दो बच्चों और दर्जन भर महिलाएं शामिल है। 22 में 13 शहर के जैन स्ट्रीट और 8 मंडी जवाहर गंज के पॉजिटिव है, जबकि एक शहर के नौकुआं निवासी युवक पॉजिटिव है।थाना भवन के पांच, कांधला के नौ, कैराना के दो तथा झिंझाना के गांव खानपुर कलां निवासी एक व्यक्ति पॉजिटिव पाया गया है। सभी पॉजिटिव को कोविड-19 भेजने के लिए टीमें रवाना कर दी गई है। कोविड-19 अस्पताल से चार लोगों को उपचार के बाद डिस्चार्ज किया गया है। जिसके बाद जनपद में कोरोना एक्टिव पॉजिटिव की संख्या बढ़कर 95 हो गई है। अधिकांश पॉजिटिव पहले से ही भर्ती मरीजों के क्लोज कांटेक्टस है।जिलाधिकारी जसजीत कौर ने बताया कि शनिवार को मेडिकल कॉलेज से आई 414 कोरोना जांच की रिपोर्ट प्राप्त हुई है। जिनमें से 40 लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव पाई है, जिनमें एक ट्रू-नेट पॉजिअिव शामिल है। जबकि 374 रिपोर्ट निगेटिव प्राप्त हुई है। डीएम ने बताया कि 40 पॉजिटिव में शहर के जवाहर गंज मंडी से 08, जैन स्ट्रीट से 13 तथा नौकुआं रोड से 01, झिंझाना के गांव खानपुरकलां से 01, थानाभवन से 05, कांधला से 09 पॉजिटिव, कैराना के मोहल्ला गुम्बद निवासी दो सगे भाईयों की पॉजिटिव की रिपोर्ट के अलावा एक 01 व्यक्ति की रिपोर्ट ट्रू-नेट से पॉजिटिव प्राप्त हुई है। उन्होंने बताया कि चार लोगों को कोविड-19 से उपचार के बाद डिस्चार्ज किया गया है। 40 नये पॉजिटिव मिलने और 04 डिस्चार्ज होने के बाद जनपद में कोरोना एक्टिव केस की संख्या 95 हो गई है। डीएम ने बताया कि सभी नये पॉजिटिव को कोविड-19 अस्पताल में भर्ती कराने के लिए टीमें रवाना कर दी गई है। जहां नये मरीज मिले हैं कुछ स्थानों पर पहले से ही हॉटस्पॉट एवं सीलिंग की हुई, कुछ स्थानों सैनेटाइजेशन व हॉटस्पॉट की सीलिंग कराई जाएगी।               


अमेरिकाः 1 दिन में 77 हजार संक्रमित

वाशिंगटन डीसी/ ब्रासीलिया। अमेरिका और ब्राजील वायरस के संक्रमण से सर्वाधिक प्रभावित हैं। अमेरिका में जहां एक दिन में 77,000 संक्रमित पाए गए वहीं इस दौरान 969 लोगों की मौत भी हुई। ब्राजील में हर दिन 1,000 से ज्यादा की मौत हो रही है। यहां अधिकारियों ने कहा है कि ताबूतों की कमी पड़ रही है।


अमेरिका ने संक्रमण के मामलों में अपना ही रिकार्ड तोड़ते हुए पिछले  24 घंटों में 77,217 नए मामले दर्ज किए हैं। यह महामारी फैलने के बाद से अब तक यहां एक दिन में सबसे ज्यादा मामले हैं। 10 जुलाई को यहां 68 हजार मामले सामने आए थे। यहां सबसे ज्यादा प्रभावित न्यूयॉर्क है जहां 4,31,380 संक्रमित मिले हैं।             


बैडमिंटन 'खिलाड़ी' अभ्यास में जुटे

अमित शर्मा


जालंधर । हंसराज स्टेडियम में जालंधर बैडमिंटन एसोसिएशन के अधीन जिला बैडमिंटन अकादमी शुरु हो चुकी है। खिलाड़ी अभ्यास करने में जुट गए है। कोविड-19 वायरस की गंभीरता को देखते हुए खिलाड़ियों की सुरक्षा का ख्याल रखा जा रहा है। पूर्व राष्ट्रीय व अंतर्राष्ट्रीय खिलाड़ियों ने एसोसिएशन के सदस्यों की प्रशंसा की।


एसओपी की हिदायतों के अनुसार खिलाड़ी अभ्यास कर रहे है। अंतर्राष्ट्रीय बैडमिंटन खिलाड़ी सचिन रत्ती, इंडियन बैडमिंटन टीम के पूर्व कप्तान दीपांकर भट्टाचार्य, पूर्व नेशनल खिलाड़ी प्रदनया, अंतर्राष्ट्रीय बैडमिंटन खिलाड़ी प्रणव चोपड़ा, वेटर्न अंतर्राष्ट्रीय खिलाड़ी राम लखन, पूर्व राष्ट्रीय खिलाड़ी अरविंद दत्त, चेतन आनंद ने कहा कि कोरोना वायरस में राज्य व राष्ट्रीय स्तरीय खिलाड़ी अभ्यास करके पसीना बहा रहे है। स्टेडियम में खिलाड़ी की सुरक्षा का ख्याल रखा जा रहा है। वायरस की गंभीरता को देखते हुए एसोसिएशन के सदस्यों को शुभकामनाएं दी। पूर्व खिलाड़ियों ने कहा कि शरीर की इम्युनिटी मजबूत करने के लिए फिटनेस जरुरी है। खिलाड़ी हर बीमारी से लड़ सकेगा।                   


कोरोना काल में टीकाकरण हुआ प्रभावित

नई दिल्ली। कोरोना काल में बच्चों के टीकाकरण का काम सबसे अधिक प्रभावित हुआ है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) और यूनीसेफ ने कोरोना वायरस कोविड-19 के संक्रमण के कारण दुनिया भर में बाधित हुए बच्चों के टीकाकरण अभियान के प्रति चिंता व्यक्त करते हुए कहा है कि इससे वर्षों की मेहनत पर पानी फिर जायेगा। डब्ल्यूएचओ और यूनीसेफ ने ताजा आंकड़ों का हवाला देते हुए बुधवार को कहा कि कोरोना संक्रमण की वजह से दुनिया भर में बच्चों के टीकाकरण में बाधायें आयी हैं। इसके कारण अधिकाधिक बच्चों को टीका देने के अभियान को गहरी क्षति पहुंची और साथ ही पोलियो जैसी बीमारी से मुक्त होने वाले देशों पर दोबारा संकट मंडराने लगा है। आंकड़ों के मुताबिक इस साल के शुरुआती चार माह यानी अप्रैल 2020 तक के आंकड़े बताते हैं कि डिप्थीरिया, टेटनस और कालीखांसी के टीके डीटीपी3 के तीन डोज पूरा करने वाले बच्चों की संख्या में खासी गिरावट आयी है। ऐसा 28 साल में पहली बार हो रहा है जब दुनिया में डीटीपी3 डोज पूरा करने वाले बच्चों की संख्या में गिरावट आयी है। डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक डॉ. तेद्रॉस  अधानोम गेब्रेसस ने कहा किः जन स्वास्थ्य के इतिहास में टीकाकरण सबसे बड़ी कोरोना संक्रमण ने लेकिन वर्षों की इस मेहनत पर पानी फेरने का काम किया है। टीकाकरण कारण जितने लोग बीमार हुए और जितनी मौत हुई, उससे अधिक संख्या में टीकाकरण न करा पाने वाले बच्चे बीमार हो सकते हैं और उनकी मौत हो सकती है। उन्होंने कहा कि लेकिन ऐसा हो यह जरुरी नहीं। इस महामारी के समय में भी टीके की आपूर्ति की जा सकती है, उसे डिलीवर किया जा सकता है और हम सभी देशों को कह रहे हैं। कि वे इस जीवन रक्षक कार्यक्रम को कोरोना संक्रमण के दौर में भी जारी रखें। यूनीसेफ,डब्ल्यूएचओ और गावी के नये सर्वेक्षण के मुताबिक कोविड-19 महामारी के कारण कम से कम 30 टीकाकरण अभियानों के समाप्त होने का खतरा मंडरा रहा है, जिससे इस साल तथा आने वाले साल में बीमारियां बढ़ सकती हैं। यह सर्वेक्षण अमेरिका के सेंटर फोर डिजीज कंट्रोल, द साबिन वैक्सीन इंस्टीट्यूट और जॉन हॉपकिंस ब्लूमबर्ग स्कूल आॅफ पब्लिक हेल्थ के सहयोग से किया गया। सर्वेक्षण में शामिल 82 देशों में से तीन चौथाई देशों ने कोरोना काल में  टीकाकरण अभियान के बाधित होने की बात कही। टीकाकरण अभियान के बाधित होने के कई कारण बताये गये। कई देशों में लोग टीके की आपूर्ति होने के बावजूद अपने घर से बाहर निकलने के डर में, परिवहन सेवा के बाधित रहने, आर्थिक तंगी, आवाजाही में प्रतिबंध और कोरोना संक्रमण के चपेट में आने के भय से बच्चों को टीका नहीं दिला सके। टीका देने वाले स्वास्थ्यकर्मी भी सुरक्षात्मक उपकरण की कमी, कोरोना संक्रमण संबंधी अलग ड्यूटी में तैनाती तथा आवाजाही में परेशानी के कारण अनुपलब्ध रहे।         


कोविड-19ः हापुड़ में गंदगी का अंबार

अतुल त्यागी


नगर पालिका की सुस्ती के चलते अर्जुन नगर मोहल्ले के अंदर पनपते गंदगी के अंबार- कोविड-19 के चलते


हापुड़। जहां पर केंद्र सरकार और राज्य सरकार करोड़ों अरबों रुपया खर्च कर रही है। स्वस्थ अभियान के लिए, वहीं पर जनपद हापुड़ के अंदर आते हैं। ऐसे ऐसे मामले सामने गंदगी के चलते जो आम व्यक्ति को हिला कर रख देंगे, उसके बाद भी कुछ अधिकारी लोग सोए रहते हैं। कुंभकरण कि नींद, नहीं है इन्हें आम व्यक्ति की जिंदगी से कोई लेन या देन, हापुड़ के अंदर खास करके आप किसी भी कॉलोनी के अंदर चले जाओ कोई पर्सेंट ही कॉलोनी साफ मिलेगी नहीं तो हापुड़ नगर पालिका की सुस्ती के चलते चल रहा है।


 सब राम भरोसे, प्रशासन के दावों को पलीता लगाते हुए हापुड़ नगरपालिका के कुछ कर्मचारी लोग, जनपद हापुड़ के अर्जुन नगर मोहल्ले से आया एक मामला सामने जहां पर अर्जुन नगर कॉलोनी के अंदर गली संख्या तहरा के अंदर लगे हैं। गंदगी के मस्त वाले अंबार, देखा जाए तो अगर गली मोहल्ले के अंदर कोई भी कार्यक्रम होता है तो सारी गंदगी मोहल्ले के अंदर पड़े खाली विस्तार जगह के अंदर डाल दी जाती है सूत्रों की जानकारी के अनुसार निकालने बढ़ने वाले लोग देखते रह जाते हैं मगर सफाई के विषय के अंदर कोई नहीं सोचता, बताया गया है कि जहां पर एक गंदगी पड़ी है वहां पर चारों तरफ की गंदगी आम जनता डाल देती है तथा नगर पालिका के कर्मचारी देखने तक नहीं आ पाते जिनके सुस्ती के कारण फैल सकती है मोहल्ले के अंदर कोविड-19 के चलते कोई भी खतरनाक बीमारी, जहां पर सभी जानते हैं कि कोविड-19 ने अपना भरपूर रूप दिखा रखा है हर रोज निकल रहे हैं। पॉजिटिव मरीज उसके पश्चात भी हापुर नगर पालिका के सुस्ती के चलते मामला बन सकता है अर्जुन नगर मोहल्ले के लिए गंभीर, अब देखने का विषय यह होगा कि नगर पालिका के कर्मचारी इस मामले को संज्ञान कर कब तक इस पर एक्शन लेते हैं या यूं ही अर्जुन नगर मोहल्ले के अंदर पनपती रहेगी गंदगी।             


महिला सहित 3 के खातों से निकाले लाखों

अतुल त्यागी


श्रीनगर की महिला सहित तीन के खातों से निकालें लाखों रुपये


हापुड़। नगर के श्रीनगर कालोनीं निवासी सहित तीन लोगों के खातों से ठगों ने साढ़े लाख रुपये साफ कर दिए।पुलिस ठगों का पता करनें में जुटी है। लाकडाऊन व कोरोना महामारी के बीच साईबर ठग लोगों के खातों से रुपये साफ कर रहे है।इसी मामलें में हापुड़ के श्रीनगर निवासी महिला अंजली शर्मा के एकांउट से साढ़ हजार व बाबूगढ़ निवासी संजय सिंह के खाते से पौने चार लाख व धौलाना निवासी कृष्ण कुमार के एटीएम से दस हजार रूपये निकाल लिए है। मैसेज मिलनें पर खातेदारों के होश उड़ गए और उन्होंनें थानें में तहरीर दी है।                                 


नीरज ने निकाला क्षेत्र में 'फ्लैग मार्च'

अतुल त्यागी
थाना बहादुरगढ़ प्रभारी नीरज कुमार ने क्षेत्र में निकाला फ्लैग मार्च


हापुड़/ बहादुरगढ़। थाना बहादुरगढ़ प्रभारी नीरज कुमार अपनी फुल टीम के साथ की चेकिंग लोक डाउन के नियम तोड़ने वालों के खिलाफ की कार्रवाई। गांव-गांव जाकर जनता से की अपील क्षेत्र में खुशी की लहर, थाना बहादुरगढ़ प्रभारी नीरज कुमार ने क्षेत्र में करोना महामारी को लेकर अपील की।


मुजफ्फरनगर में बढकर 123 पॉजिटिव

मुजफ्फरनगर के 2 कोरोना मरीजों की मेरठ मैडिकल व सुभारती कालेज में मौत, 14 हुए ठीक, जिले में अब 123 एक्टिव केस


भानु प्रताप उपाध्याय
मुजफ्फरनगर l जिले में कई दिन बाद आज कोरोना की रिपोर्ट ही नहीं आयी, जिससे कोई संक्रमित मिला ही नहीं, जिससे जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग ने राहत की सांस ली है, लेकिन दो कोरोना मरीजों ने मेरठ के मेडिकल कॉलेज और सुभारती मेडिकल कॉलेज में दम तोड दिया। अब जिले में 123 एक्टिव केस रह गये हैं। सुभारती मेडिकल कॉलेज में भर्ती मुजफ्फरनगर के मरीज को तीन दिन पहले कोरोना होने की पुष्टि हुई थी। उस व्यक्ति की रात के समय मौत होने के बाद आज सुबह शव का यहां पैतृक गांव में अंतिम संस्कार किया गया, जबकि जिला प्रशासन ने इस बात की पुष्टि की है कि मुजफ्फरनगर निवासी एक व्यक्ति की मेरठ मेडिकल में भी मौत हो गई। मेडिकल कॉलेज मेरठ के कोविड-19 अस्पताल में 1 कोविड-19 पॉजिटिव रोगी की मृत्यु हो गई, वह कोतवाली क्षेत्र की रहने वाली 60 वर्षीय महिला है, जिसे विगत 13 जुलाई को रात 9:30 बजे परिजन मेडिकल कॉलेज मेरठ ले गए थे | महिला का ऑक्सीजन सैचूरेशन भर्ती के समय काफी कम था| वह अनियंत्रित डायबिटीज की पहले से मरीज़ थी | आज सुबह 5:10 बजे महिला की मृत्यु हो गई। जिले में हालांकि कोरोना से मरने वालों की संख्या अब 23 हो गई है, लेकिन जिला प्रशासन अभी 15 लोगों के मरने की ही पुष्टि कर रहा है। मुख्य चिकित्साधिकारी डा. प्रवीण चौपडा ने बताया कि मुजफ्फरनगर मेडिकल कॉलेज के कोविड अस्पताल में भर्ती 14 मरीज ठीक हो गए हैं। इस तरह से अब जिले में 123 एक्टिव केस रह गए हैं।                          


मुंबई में संक्रमितों की संख्या हुई 1 लाख

मुंबई। मुंबई में कोरोना वायरस के मामलों की संख्या एक लाख के करीब होने के बावजूद देश की वित्तीय राजधानी में ठीक होने की दर करीब 70 प्रतिशत है जो कि राष्ट्रीय औसत से सात प्रतिशत अधिक है। यह जानकारी आधिकारिक आंकड़े में सामने आयी है। पत्र सूचना कार्यालय (पीआईबी) की ओर से शुक्रवार को जारी एक विज्ञप्ति में कहा गया था कि (शुक्रवार तक) देश में कोविड-19 के मामले 3,42,756 थे और ठीक हुए मरीजों की संख्या करीब 6.35 लाख थी जो कि सामने आए मामलों का 63 प्रतिशत है।


मुंबई में ठीक होने की दर महाराष्ट्र से करीब 15 प्रतिशत अधिक है जो कि 55.62 प्रतिशत है। महाराष्ट्र मेडिकल एजुकेशन एंड ड्रग्स डिपार्टमेंट (एमईडीडी) द्वारा शुक्रवार को जारी आंकड़ों के अनुसार मुंबई में उपचाराधीन मरीजों की संख्या 24,307 थी जबकि 67,830 मरीज अब तक संक्रमण से ठीक हो चुके हैं। मुबई में कोविड-19 से ठीक होने की दर जून के मध्य तक लगभग 50 प्रतिशत थी, जब बृहन्मुंबई महानगरपालिका (बीएमसी) ने कोरोना वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए त्वरित कार्ययोजना के तहत ‘‘मिशन जीरो’’ शुरू किया था।                     


उत्तर-कोरिया के साथ नजदीकी रिश्ते

नई दिल्ली। अब इसे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भारत के बढ़ते रुतबे का असर कहें या कुछ और कि उत्तर कोरिया में भारतीय राजदूत का बधाई संदेश राष्ट्रीय महत्व की खबर बन गया है। इस संदेश को न केवल उत्तर कोरिया के सरकारी अखबारों में जगह दी गई है, बल्कि टीवी पर भी प्रसारित किया गया है। आमतौर पर उत्तर कोरिया विदेशी राजनयिकों के संदेशों को ज्यादा तवज्जो नहीं देता, इसलिए भारत के मामले में ऐसा करके उसने सभी को चौंका दिया है और इस पर अब चर्चा भी शुरू हो गई है। दरअसल, भारतीय राजदूत अतुल एम गोतसर्वे ने तानाशाह किम जोंग उन को मार्शल बनाए जाने के 8 साल पूरे होने के मौके पर उन्‍हें बधाई संदेश और फूलों का गुलदस्‍ता भेजा था। इस बारे में उत्तर कोरिया में भारत के दूतावास ने सोशल मीडिया पर जानकारी शेयर की है। उत्‍तर कोरिया के सरकारी चैनल पर प्राइम टाइम में भारत का जिक्र हुआ और भारतीय राजदूत का संदेश भी पढ़कर सुनाया गया। इसके अलावा, प्रमुख सरकारी अखबार ‘रोडोंग स‍िनमुन’ में भी इसे प्रमुखता के साथ जगह दी गई। गौरतलब है कि भारत उन चंद देशों में शामिल है, जिसके उत्तर कोरिया के साथ नजदीकी रिश्ते रहे हैं। कोरियाई प्रायद्वीप में शांति स्थापित करने के लिए भारत ने लंबे समय तक महत्‍वपूर्ण भूमिका निभाई है।


सेवा बहाली के लिए मंत्रिमंडल की जरूरत

काठमांडू। नेपाल सरकार अगले महीने से घरेलू और अंतरराष्ट्रीय विमान सेवाएं बहाल करने पर विचार कर रही है। कोरोना वायरस संक्रमण के खिलाफ लड़ाई में देश तेजी से प्रगति कर रहा है। पर्यटन मंत्रालय प्रायोगिक तौर पर पांच अगस्त से घरेलू और 17 अगस्त से अंतरराष्ट्रीय विमान सेवाएं बहाल करने पर काम कर रहा है। मंत्री योगेश भट्टराई के एक करीबी अधिकारी ने कहा कि पहले चरण में राजधानी काठमांडू से विमान सेवाएं बहाल की जाएंगी। विमान सेवाएं बहाल करने के लिए मंत्रिमंडल के फैसले की जरूरत होगी। कोरोना वायरस का संक्रमण रोकने के लिए नेपाल सरकार ने मार्च के तीसरे सप्ताह में हवाई यात्राओं पर रोक लगा दी थी। हालांकि वापसी और मेडिकल उपकरणों के लिए चार्टर्ड विमान संचालित होते रहे। विमान सेवाएं बहाल होने से महामारी के कारण संघर्ष कर रहे देश के पर्यटन उद्योग को बल मिलने की उम्मीद है।         


पेड़ काटते वक्त तार टूटा, हुई मौत

पेड़ काटते वक्त विद्युत तार टूटा, चपेट में आने से दलित युवक की मौत


प्रयागराज। सरायइनायत थाना क्षेत्र के कसेरूआ कलां (हसनपूर) गांव में पेड़ काटते वक्त गिरे विद्युत तार की चपेट में आने से युवक की दर्दनाक मौत हो गई। परिजनों ने महाविद्यालय संचालक पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए गैर इरादतन हत्या का आरोप लगाया। सूचना पर पहुंची पुलिस शव को कब्जें में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा। 
जानकारी के मुताबिक उक्त गांव के हसनपुर मजरा में स्थित एक महाविद्यालय संचालक द्वारा निर्माण कार्य शुरू कराया गया है। विद्यालय परिसर के पास स्थित बैर का पेड़ रात्रि के वक्त जे0सी0बी0 से काट कर मिट्टी डालकर समतल करने का कार्य हो रहा था। गुरूवार को जे0सी0बी0 से पेड़ काटते वक्त बिजली के तार से पेड़ की डाल उलझ गई जिससे विद्युत तार टूटकर जमींन पर गिर पड़ा। ग्रामीणों ने इस सम्बंध में विद्यालय संचालक से टूटे विद्युत तार को ठीक कराये जाने को कहा। लेकिन मनमानी पर उतारू विद्यालय के प्रबंधक ने टूटकर जमींन गिरे विद्युत तार को ठीक कराने व विद्युत विच्छेदन कराना उचित नही समझा। रात भर ग्रामीण अंधेरे में रहने के बाद सुबह पुनः इस सम्बंध में लाइट कटवाने को कहा लेकिन इसके बावजूद भी नतीजा सिफर रहा। अपराह्न 2 बजे के करीब गांव का कृपा शंकर हरिजन 25 वर्ष पुत्र अनिल कुमार मजदूरी कर दोपहर की छुट्टी में घर खाना खाने आ रहा था, रास्तें में टूटकर गिरे विद्युत तार की जद में आ गया। जिससे तार में प्रवाहित हो रहे करंट की चपेट में आ जाने से गंभीर रूप से झुलस गया। आनन-फानन परिजन उसे इलाज के लिए एक निजी अस्पताल में ले गये जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया। परिजन महाविद्यालय संचालक के विरूद्ध कार्यवाही की मांग करते हुए पुलिस चैकी पहुंचे। काफी समय बीत जाने के बाद जब पुलिस नही पहुंची तो परिजन और ग्रामीण आक्रोशित होकर नारेबाजी करने लगे। सूचना पाकर सीओ फूलपुर उमेश शर्मा, इंस्पेक्टर सरायइनायत संजय दूबे पुलिस फोर्स के साथ मौके पर पहुंचे और भी परिजनों को कार्यवाही का अश्वासन देकर शव को पोस्टमार्टम के लिए एसआरएन भेजा। मृतक की पत्नी शंकुतला देवी ने महाविद्यालय संचालक के विरूद्ध नामजद एफ आई आर होने के बाद भी कार्यवाही नही हो रही है पुलिस पैसा लेके मामले को दबाने में लगी है।             


ऊर्जा मंत्री से विभाग की शिकायत करेंगे

अतुल त्यागी


हापुड़। बिजली विभाग के अधिकारियों की भ्रष्टाचारी पर अभी तक कोई विभागीय कार्यवाही नहीं कई दिन से हो रहा है। जेई का ऑडियो वायरल समाजसेवी मिलेंगे ऊर्जा मंत्री से बिजली विभाग की शिकायत करेंगे। मामला जनपद हापुड़ के पिलखुवा कोतवाली क्षेत्र के गांव दहपा कमालपुर का है जहां बिजली विभाग के जेई संजय मौर्य ने अपने टीम के साथ मिलकर परवेज पुत्र अब्बास के भट्टे पर छापेमारी की थी छापेमारी के दौरान बिजली चोरी पाई गई थी जिसको लेकर जैई जय संजय मौर्य ने अपने लाइनमैन की मिलीभगत से ₹80000 की डिमांड की थी लाइन मैन ने 55 हजार रुपे में सेटिंग करली और जैई को ₹50 हजार बताए लाइन मैंने ने ₹5 हजार अपनी अंटी में लगा लिए ₹50 हजार की फोन पर हुई बात की ऑडियो रिकॉर्डिंग हुई वायरल।हालांकि एक्शन पिलखुवा का कहना है। मामला उनके संज्ञान में नहीं है अगर मामला उनके संज्ञान में आता है तो कार्रवाई की जाएगी वही स्थानीय लोगों का कहना है बिजली कर्मचारी आए दिन लोगों से ठगाई करने में लगे हुए हैं लेकिन अधिकारी कोई कार्रवाई करने के लिए तैयार नहीं है। समाजसेवी मंगलवार को मिलेंगे ऊर्जा मंत्री से बिजली विभाग की करेंगे शिकायत।                     


तीन गिरफ्तार, मास-उपकरण बरामद

अतुल त्यागी


अवैध मीट कटान वाले तीन गिरफ्तार, मांस व उपकरण बरामद


हापुड़। रुप से कटान के लिए चर्चित रहे बुलन्दशहर रोड़ पर कोतवाल ने एक मकान पर छापा मारकर तीन कसाईयों को गिरफ्तार कर मीट व पशु काटनें वालें उपकरण बरामद किए।
कोतवाल सुबोध सक्सेना ने बताया कि कोतवाली क्षेत्र के अलीनगर में अवैध रुप से मीट कटान की सूचना पर एक मकान पर छापा मारकर तीन कसाईयों को गिरफ्तार किया और मौके से मीट,पशु अवशेष व उपकरण बरामद किए है।
उल्लेखनीय हैं कि हापुड़ के बुलन्दशहर रोड़ पर पुलिस ने अनेक बार छापा मारकर मिनी कट्टीघर व पशुओं के अवैध कटान का भंड़ाफोड़ कर कसाईयो को गिरफ्तार कर जेल भेज चुके है।                           


एससी ने सोशल मीडिया को दी आजादी


नई दिल्ली। सोशल मीडिया पोस्ट को लेकर जो भ्रामित फैलाया जा रहा है उस पर सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला, सोशल मीडिया पोस्ट पर अब नहीं होगी जेल। जिसमें पर सुप्रीम कोर्ट ने सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम की धारा धारा 66A पर ऐतिहासिक फैसला सुनाते हुए इसे अंसवैधानिक घोषित करते हुए रद कर दिया।


वही जिसमें सूत्रों के हवाले से मिले खबर के अनुसार सर्वोच्चन्यायालय ने अहम फैसला सुनाते हुए कहा कि आईटी एक्ट की यह धारा संविधान के अनुच्छेद 19(1) A का उल्लंघन है। जिसमें भारत के हर नागरिक को श्भाषण और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का अधिकारश् देता है। कोर्ट ने कहाए धारा धारा 66A अभिव्यक्ति की आजादी के मूल अधिकार का हनन है। जिसमें सूत्र बताते है कि सुप्रिम कोर्ट की अदालत के आदेश के बाद अब फेसबुक, ट्विटर, लिंकड इन, व्हाट्स एप सरीखे सोशल मीडिया माध्यमों पर कोई भी पोस्ट डालने पर किसी की गिरफ्तारी नहीं होगी। वही इस कोर्ट के फैसले पर याचिकाकर्ता श्रेया सिंघल ने इस फैसले को बड़ी जीत बताते हुए कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने लोगों के भाषण और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के अधिकार को कायम रखा है। वही आपको बता दे कि इससे पहले धारा 66A के तहत पुलिस को ये अधिकार था कि वो इंटरनेट पर लिखी गई बात के आधार पर किसी को गिरफ्तार कर सकती थी। सुप्रीम कोर्ट में दायर याचिकाओं में आईटी एक्ट की धारा 66A को चुनौती दी गई थी।


मनोज सिंह ठाकुर       



दिल्लीः संक्रमण में तेज गिरावट दर्ज

नई दिल्ली। बीते हफ़्तों में भारत की राजधानी दिल्ली में कोरोना संक्रमण के मामलों में तेज़ गिरावट दर्ज की गई है। तो क्या ये माना जाए कि दिल्ली - जिसे कुछ दिन पहले भारत का 'सबसे बड़ा कोरोना हॉटस्पॉट' कहा जा रहा था, वो आने वाले दिनों में कोरोना संक्रमण के ग्राफ़ को समतल कर देगी?दो हफ़्ते पहले, दिल्ली में संक्रमण की रफ़्तार देखकर लग रहा था कि स्थिति बेकाबू हो गई है। दिल्ली में अब तक कुल 1 लाख 18 हज़ार से ज़्यादा केस दर्ज किए गए हैं। इनमें 17 हज़ार से अधिक केस फ़िलहाल एक्टिव हैं और 97 हज़ार से ज़्यादा लोग संक्रमण के बाद ठीक हो चुके हैं। जून का महीना दिल्ली के लिए बहुत बुरा बीता. हर रोज़ रिकॉर्ड संख्या में नए मामले दर्ज होते रहे। दिल्ली में जिस तरह केस बढ़ रहे थे, उसे पूरा देश देख रहा था। कोविड-19 टेस्ट कराने वालों की भीड़ से लैब भरी पड़ी थीं, सरकारी अस्पतालों में भी अफ़रा-तफ़री और तनाव था। साथ ही दिल्ली सरकार और केंद्र सरकार के बयानों से परस्पर-विरोधी सूचनाएँ सामने आ रही थीं।           


21 जुलाई से होगा मुफ्त राशन वितरण

सिधौली 21 जुलाई से होगा मुफ्त राशन का वितरण


नरेश गुप्ता


सिधौली/ सीतापुर। उत्तर प्रदेश में करीब 14 करोड़ राशन कार्डधारकों को प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना (पीएमजीकेएवाई) के तहत 21 जुलाई से नि:शुल्क राशन वितरण प्रारम्भ होगा। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 30 जून को जुलाई से नवम्बर तक के लिए इस योजना के तहत मुफ्त राशन देने की समयावधि बढ़ाने की घोषणा की थी। खाद्य विभाग ने वितरण के संबंध में दिशा निर्देश जारी कर दिए। माह की 30 तारीख तक चलने वाले दूसरे चक्र में अन्त्योदय और पात्र गृहस्थी योजना के लाभार्थियों को मुफ्त चावल व गेंहू का वितरण होगा। जानकारी के अनुसार योजना के तहत राशन के आवंटन, उठान से लेकर कोटेदारों तक पहुंचाने का सारा काम लगभग पूरा हो चुका है।                    


क्या बोले जिला पूर्ति अधिकारीःजिला पूर्ति अधिकारी संजय कुमार ने बताया कि 21 जुलाई से प्रति यूनिट तीन किलो गेंहू व दो किलो चावल दिया जाएगा, इस महीने में चने का वितरण नही होगा, अगले माह चने का वितरण भी सम्भव होगा। इससे पहले, अप्रैल, मई और जून में इस योजना के तहत गेंहू, चावल और चना दिया गया था।             


गाजियाबाद के होटल बने क्वारंटाइन सेंटर

अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। कोरोना संक्रमितों की बढ़ती संख्या को देखते हुए जिला प्रशासन ने गाजियाबाद के तो होटलों को कोविड केयर सेंटर में बादल दिया है। इन होटलों में कुल मिलाकर 95 व्यक्ति अपना उपचार करा सकेंगे।  इन होटलों में रहने के लिए मरीजों को प्रतिदिन 1,500 से 2,000 रुपए चुकाने होंगे। यह दर प्रशासन द्वारा निर्धारित की गई है।


जिलाधिकारी अजय शंकर पाण्डेय ने बताया कि रेलवे रोड स्थित तरू इन और एलाइट होटलों में कोरोना संक्रमितों को इलाज के साथ सभी सुविधाएं उपलब्ध रहेंगी।  यहां रहने वाले मरीजों का उपचार सरकारी चिकित्सकों व पैरामेडिकल स्टाफ द्वारा किया जाएगा और उपचार के लिए मरीज से एकमुश्त दो हजार रुपये लिए जाएंगे। मुख्य चिकित्साधिकारी द्वारा मरीज की स्थिति और सहमति के बाद ही होटलों में मरीजों को भर्ती किया जाएगा।


होटल के सिंगल अक्यूपेंसी के कमरे 25 प्रतिशत कमरे महिलाओं, छोटे बच्चों व वृद्धों को दिए जाएंगे जबकि 75 प्रतिशत कक्ष डबल अक्यूपेंसी पर दिए जाएंगे।इसके साथ प्रशासन द्वारा होटल में चिकित्सीय सुविधा व अन्य व्यवस्थाएं कराई जाएंगी। इन होटलों में गर्भवती महिलाओं, छोटे बच्चों व 65 वर्ष से अधिक आयु के बुजुर्गों को भर्ती नहीं किया जाएगा।


आपको बता दें कि गाज़ियाबाद जिले के 35 होटल संचालकों ने अपने होटलों को क्वारंटाइन सेंटर बनाने पर सहमति दी थी। होटलों के कमरे के किराये को कम करने के लिए भी प्रशासन होटल संचालकों से वार्ता कर रहा था। इस बीच बजरिया के दो होटल संचालकों ने प्रशासन को क्वारंटाइन सेंटर बनाने के लिए प्रस्ताव भेजा था। भर्ती होने वाले लोगों को होटल की तरफ से ब्रेकफास्ट, लंच, डिनर, एयर कंडीशनर, बेड, टीवी, गीजर, मिनरल वॉटर समेत अन्य सुविधाएं मिलेंगी।                


मिनी लॉकडाउन में बडी पुलिस की ज्यादती

अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। प्रदेश सरकार द्वारा सप्ताहांत पर लगे लॉकडाउन का गाज़ियाबाद में भी व्यापक असर दिखाई दे रहा है। जिले भर में दुकानें बंद नज़र आ रही हैं।  हालांकि कुछ स्थानों पर पुलिस की जबर्दस्ती की भी सूचना आ रही है।प्रशासन की ओर से अग्निशमन विभाग और नगर निगम के कर्मचारी अलग-अलग टीमें बना कर बाज़ारों और दफ्तरों का सैनिटाइजेशन करा रहे हैं।  नगरायुक्त दिनेश चंद्र अब तक खुद कई वार्डों में जाकर औचक निरीक्षण कर चुके हैं। 


राज नगर एक्सटेंशन, तुराब नगर, दिल्ली गेट, संजय नगर, वैशाली, इंदिरापुरम और शालीमार गार्डन एक्सटेंशन आदि से पुलिस की ज्यादती की भी सूचनाएँ आ रही हैं।  दुकानदारों का कहना है कि पुलिसकर्मी दूध, ब्रेड और अंडे आदि की दुकानें भी जबर्दस्ती बंद करा रहे हैं। दुकानें बंद न करने वाले दुकानदारों को उठाकर ले जाने की धमकी भी दी जा रही है।


कौन सी सेवाएँ हैं प्रतिबंध से बाहर


राज्य सरकार द्वारा जारी आदेश में स्पष्ट रूप से कहा गया है कि मिनी-लॉकडाउन से आवश्यक सेवाएँ और वस्तुओं को बाहर रखा हुआ है।  लॉकडाउन के दौरान जो सेवाएँ जारी रहेंगी वे इस प्रकार हैं –



  • जिले में स्वास्थ्य सेवाओं के अलावा, सिर्फ दूध, सब्जी व फल की दुकानें पूर्व की भांति ही खुलेंगी।

  • शुक्रवार रात 10 बजे से शुरू हुआ पूर्ण रूप से लगा यह लॉकडाउन सोमवार सुबह 5 बजे तक प्रभावी रहेगा।

  • शनिवार और रविवार को सभी कार्यालय, शहरी व ग्रामीण हाट, बाजार, गल्ला मंडी व व्यावसायिक प्रतिष्ठान बंद रहेंगे।

  • सभी स्वास्थ्य सेवाएं व आवश्यक सेवाएं जारी रहेंगी।

  • आवश्यक व स्वास्थ्य और चिकित्सा संबधी सेवाओं से जुड़े कर्मचारी व व्यक्ति पर पाबंदी नहीं होगी।

  • इस बार खासतौर से प्रशासन ने आवश्यक सेवा में आने वाली सब्जी, फल व दूध की दुकानों को पूर्व की भांति खोले जाने के निर्देश दिए हैं।             


संचारी रोगों के विरुद्ध स्वच्छता-अभियान

बड़े स्तर पर संचालित किया जा रहा है विशेष सफाई अभियान


बिसरख ब्लॉक के अंतर्गत ग्राम बादलपुर में स्वछता टीम विशेष सफाई अभियान संचालित करते हुए


विजय भाटी


गौतम बुध नगर। वेक्टर जनित बीमारियों की रोकथाम एवं कोरोना वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने के उद्देश्य से प्रदेश सरकार के द्वारा संपूर्ण जुलाई माह के अंतर्गत विशेष संचारी रोग नियंत्रण अभियान संचालित किया जा रहा है। सरकार के इस महत्वाकांक्षी कार्यक्रम को जनपद में जिलाधिकारी सुहास एल वाई के नेतृत्व में लगातार मूर्त रूप प्रदान किया जा रहा है। डीएम के निर्देश पर जिला पंचायत राज अधिकारी कुंवर सिंह यादव एवं उनकी स्वछता टीम के द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों में जहां एक और जागरूकता कार्यक्रम संचालित करते हुए ग्रामीणों को सफाई के प्रति जागरूक किया जा रहा है वहीं दूसरी ओर सभी ग्रामीण क्षेत्रों में लगातार विशेष सफाई अभियान संचालित करते हुए कीटनाशक दवाइयों का छिड़काव भी किया जा रहा है ताकि सभी ग्रामीणों को वेक्टर जनित बीमारियों एवं कोरोना के संक्रमण से सुरक्षित बनाया जा सके। इस श्रृंखला में आज बृहद स्तर पर अभियान संचालित करते हुए ब्लॉक बिसरख के ग्राम बादलपुर में स्वच्छता के लिए विशेष सफाई अभियान संचालित किया गया। राकेश चौहान जिला सूचना अधिकारी गौतम बुध नगर।


एंटीजन किट से कर रहे कोरोना टेस्टिंग

कैंप आयोजित करते हुए संभावित कोरोना व्यक्तियों की एंटीजन किट के माध्यम से कराई जा रही है कोरोना टेस्टिंग


डीएम के निर्देश पर सेक्टर 25 नोएडा में कैंप का किया जा रहा है आयोजन


विजय भाटी


गौतम बुध नगर। कोविड-19 महामारी को दृष्टिगत रखते हुए कोविड-19 के नोडल अधिकारी नरेंद्र भूषण एवं जिलाधिकारी सुहास एल वाई के द्वारा लगातार सभी जनपद वासियों को कोरोना वायरस के संक्रमण से सुरक्षित करने एवं संक्रमित व्यक्तियों का प्रोटोकॉल के अनुरूप इलाज संभव कराने के उद्देश्य से निरंतर विभिन्न स्तर पर कार्यवाही सुनिश्चित की जा रही है ताकि सभी जनपद वासियों को कोरोना वायरस के संक्रमण से सुरक्षित बनाया जा सके। इस श्रंखला में वर्तमान में जिलाधिकारी सुहास एल वाई के निर्देश पर जनपद में एंटीजन किट के माध्यम से कोरोना टेस्टिंग करने के उद्देश्य से कैम्प आयोजित किए जा रहे हैं ताकि सभी संभावित कोरोना संक्रमित व्यक्तियों की जांच करते हुए उनका यथा समय इलाज संभव कराया जा सके। इसी कड़ी में आज सेक्टर 25 नोएडा में कैम्प आयोजित किया जा रहा है जहां पर संभावित कोरोना संक्रमित व्यक्तियों की जांच की जा रही है ताकि उन्हें समय पर इलाज संभव कराया जा सके। राकेश चौहान जिला सूचना अधिकारी गौतम बुध नगर।


गांव, घर, स्कूल, सड़क सब डूब गया

दरभंगा। जिले में बागमती नदी उफान पर है तो कमला बलान नदी अपना रौद्र रूप दिखा रही है। कमला में पानी बढ़ने से दरभंगा के कुशेश्वरस्थान प्रखंड में बाढ़ के हालात बने हुए हैं। कुशेस्वरस्थान के पूर्वी इलाके में तो पानी लोगों के लिए तबाही है। पूरा इलाका किसी समंदर से कम नहीं लगता। चारों तरफ सिर्फ पानी ही पानी और इस बाढ़ के पानी में लोगों की जिंदगी नाव पर सवार होकर डगमगाते मंजिल की ओर चलती जाती है। नदी के इस रौद्र रूप को देखकर गाव की महिलाएं नदी में नाव पर सवार होकर कमला मइया के गीत गाकर उसके इस विकराल रूप को शांत करने का टोटका भी कर रही हैं।


बाढ़ के पानी के कारण कुशेश्वरस्थान के इठहर और सुघराईं पंचायत के हाल बेहद खराब है। स्कूल के अन्दर तक़रीबन चार से पांच फीट तक  पानी भरा है। स्कूल के कमरे में पानी भरा है स्कूल की खिड़कियां पानी में डूबी है तो गांव घर के हाल भी बुरे हैं. पूरा गांव पानी से घिरा है, घरों में पानी है, गरीबों की झोपड़ियां पानी में डूब चुकी हैं। सड़कें भी नजर नहीं आतीं।


बेपटरी हो चुकी जिन्दगी को पटरी पर लाने के लिए लोग जान बचाकर ऊंचे बांध पर अपने पशुओं के साथ शरण ले चुके हैं।  पशु और इंसान में फर्क मिट गया है। पेट की आग बुझाने के लिए बांध पर ही चूल्हे की आग जला कर सरकारी मदद की आस में जिंदगी की सांस बचा रहे है। खुद जैसे तैसे अपना पेट भर रहे इन बाढ़ पीड़ितों की समस्या इतने पर ही नहीं थमती बल्कि चारो तरफ पानी होने के कारण इनके लिए पशु की चारा एक बड़ी समस्या है।


इ लुकाछिपी से कोरोना ना भागीः लालू

पटना। राजद प्रमुख लालू प्रसाद और पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी ने शुक्रवार को सरकार पर हमला करने के लिए भोजपुरी का इस्तेमाल किया है। राजद प्रमुख ने कहा है कि बिहार का हाल देख हमार दिल रो रहा है। राजद प्रमुख ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को संबोधित करते हुए कहा है कि ‘ई लुकाछिपी से कोरोना ना भागी। जब सेनापति मैदान छोड़ के भागऽल रही त लड़ाई के लड़ी।’ आरोप लगाया है कि बेरोजगारी, भुखमरी और अपराध से जनता परेशान है। सरकार अपना चेहरा रंगने में लगी है। लगभग चार महीने हो गये। लोगों को रोजी-रोटी पर आफत है। ऐसे में सीएम चार महीने में चार बार भी बंगले से बाहर नहीं निकले।


उधर, राबड़ी देवी ने भी आरोप लगाया है कि मुख्यमंत्री ‘अतिथि भूमिका’ में हैं। बाढ़, कोरोना, इलाज का अभाव, जल जमाव, ग़रीबी, पलायन, बेरोज़गारी समेत अनेक समस्याओं से बिहार त्राहिमाम कर रहा है लेकिन सूबे के मुखिया का कहीं पता नहीं है। संकट की घड़ी में उन्हें राज्यवासियों के बीच रहना चाहिए।


लालू जी चिंता न करें, बिहार सुरक्षित हाथों में : जदयू
प्रदेश जदयू के मुख्य प्रवक्ता संजय सिंह ने शुक्रवार को राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद को उन्हीं की भाषा भोजपुरी में जवाब दिया है। उन्होंने कहा कि जब सत्ता में थे तो कुछ नहीं किए, आज भोजपुरी में बोलकर इस भाषा का मजाक उड़ा रहे हैं। संजय सिंह ने कहा कि लालू जी आप वहीं हैं न जहां आपको आपके नाम नहीं नम्बर से जाना जाता है। आपको बिहार की चिंता करने की कोई जरूरत नहीं है, क्योंकि बिहार एकदम सुरक्षित हाथ में है। घबराने की कोई जरूरत नहीं है, नीतीश कुमार सभी मर्ज की दवा हैं। उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार घर से कितनी बार निकलते हैं, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता। बिहार की जनता के लिए काम हो रहा या नहीं, इससे फर्क पड़ता है। आपलोगों को यह बर्दाश्त नहीं हो रहा कि बिहार में इतना बेहतर तरीके से सबकुछ ठीक कैसे चल रहा है। कोरोना और बाढ़ में सीएम दिन-रात एक करके मेहनत कर रहे हैं। सभी जगह सुचारू रूप से काम चल रहा है।              


लक्ष्मण वालों को जांच की सुविधा दिलाएं

पटना। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मुख्य सचिव को निर्देश दिया है कि वैसे मरीज जिनमें कोरोना संक्रमण के लक्षण हैं, उन्हें किसी भी निर्धारित स्वास्थ्य संस्थान पर अपनी जांच कराने की सुविधा दिलाएं। इसके लिए संस्थान तय कर दें। स्वास्थ्य विभाग इसके लिए सभी आवश्यक व्यवस्था सुनिश्चित करे।पटना में इस तरह की व्यवस्था अविलंब प्रारंभ करा दें। साथ ही विज्ञापन एवं अन्य माध्यमों से लोगों को यह सूचना दी जाय कि कहां पर और किस प्रकार से जांच की यह व्यवस्था की जा रही है।


मुख्यमंत्री ने शुक्रवार को मुख्य सचिव के साथ कोरोना संक्रमण से बचाव के लिये किये जा रहे कार्यों की समीक्षा की और कई निर्देश दिए। मुख्यमंत्री ने यह भी निर्देश दिया कि एंटीजन जांच की व्यवस्था का विस्तार सुनिशित किया जाय, ताकि जांच कार्य एवं इसकी रिपोर्ट आने में और तेजी आ सके। उन्होंने कहा कि होम आइसोलेशन में रहने वाले लोगों की लगातार मॉनिटरिंग करें। उन्हें किसी प्रकार की चिकित्सा सुविधा की जरूरत होने पर अविलंब उपलब्ध करायी जाय। उनका मनोबल भी लगातार बनाये रखने की जरूरत है। मुख्यमंत्री ने अपील की है कि लोग धैर्य रखें, सचेत रहें, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें। अत्यंत जरूरी होने पर ही घर से बाहर निकलें और घर से बाहर निकलते समय मास्क का प्रयोग अवश्य करें।               


पीलीभीतः 6 पुलिसकर्मी संक्रमित, थाना सील

राजेश गुप्ता


पीलीभीत। जनपद के एक थाने में एक साथ 6 पुलिसकर्मियों को कोरोना संक्रमित पाए जाने से जिला प्रशासन तथा पुलिस प्रशासन में हड़कंप मच गया है।जानकारी के अनुसार जनपद पीलीभीत के थाना अमरिया में पुलिसकर्मियों की रैंडम चेकिंग की गई थी जिसके अंतर्गत रेंडम चेकिंग कि आई रिपोर्ट में 6 पुलिसकर्मियों को कोरोना संक्रमित होने की पुष्टि सीएससी अधीक्षक अमरिया लोकेश कुमार गंगवार ने की है। उन्होंने मीडिया को बताया है थाना अमरिया में तैनात 6 पुलिसकर्मियों को कोरोना संक्रमित पाया गया है।सभी कोरोना संक्रमित पुलिसकर्मियों को पीलीभीत के L1 फैसिलिटी आयुर्वेदिक विद्यालय में भर्ती करा दिया गया है।इसी के साथही थाने में तैनात 66 पुलिसकर्मियों को क्वॉरेंटाइन करते हुए प्रशासन के द्वारा थाना अमरिया का 500 मीटर का एरिया भी सील करा दिया गया है।पूरे थाना को सैनिटाइजिंग किया जा रहा है। अधीक्षक लोकेश गंगवार ने आगे बताया है थाने के सभी लगभग 60 से 70 पुलिस कर्मियों का चेकअप किया जा रहा है।             


बनारस में एक साथ 51 संक्रमित मिले

मो0 सलीम


वाराणसी। सुबह-ए-बनारस और नियमो के तहत एक तरफ की खुलती दुकानों के बीच आज सुबह-ए-बनारस ने अपनी अलसाई आँखे खोली ही थी कि कोरोना ने भी शहर में अंगडाई ले डाली और एक एक साथ 51 नए संक्रमण के मामले सामने आने के बाद कोरोना के खौफ ने शहर बनारस को अपने आगोश में ले लिया है। इसके बाद भी सडको पर बेमतलब टहलने वालो की कमी भी नहीं है। बाज़ार थोड़ी ही सही खुली हुई है। सड़के भले तंग है मगर आप अपनी बाइक से बेमतलब निकल जाए। कोई काम हो न हो सिर्फ घूमना मकसद हो। चंद फुल लेने भी कम से कम तीन किलोमीटर दूर जाये। मगर इसके पहले आप एक बार गौरफरमाए कि हुजुर बनारस में कोरोना संक्रमण के मामलो ने एक हज़ार की तायदात पार कर दिया है।


बहरहाल, साहब जीवन आपका है। आपको सुरक्षित रखना है। हम अपनी खबर को पूरा कर दे रहे है कि यहाँ शहर बनारस जो अपनी मस्ती मौज में चलता रहता है, अब कोरोना के कहर से खौफज़दा हो रहा है। हर रोज नए मरीजों का मिलना बदस्तूर जारी है। आज शनिवार को सुबह 11 बजे तक आई रिपोर्ट में 51 लोग पॉजिटिव पाए गए है। वाराणसी में इस खतरनाक बीमारी से अबतक कुल 31 लोगों की जान भी जा चुकी है। जिले में कुल कोरोना मरीजों की संख्या 1169 हो गया है। जबकि 513 मरीज स्वस्थ होकर अपने अपने घरों के लिए डिस्चार्ज हो चुके हैं। वर्तमान में एक्टिव कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 625 है।


आप इस आकड़ो पर नज़र दौडाए। शहर में बने हॉटस्पॉट को आप कलम से नही बल्कि टहलते घूमते खुद देख रहे है। यह सिलसिला बदस्तूर जारी रहेगा तो एक वक्त ऐसा भी आ सकता है कि गलियों के शहर बनारस में हर दो गलियों के बाद एक हॉटस्पॉट मिलेगा। आखिर प्रशासन भी आपको कब तक चिल्ला चिल्ला कर कहेगा कि सोशल डिस्टेंस बना कर रखे। आपकी मर्ज़ी है। इस भीड़ का आप हिस्सा बने रहना चाहते है या फिर खुद को और खुद के परिवार को सुरक्षित रखना चाहते है। घरो में रहे सुरक्षित रहे।             


रिकवरी दर 63.33 प्रतिशत तक पहुंची



नई दिल्ली। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने शुक्रवार को कहा कि भारत में कोविद -19 के मौजूदा 3.42 लाख रोगियों में से 1.94 प्रतिशत आईसीयू में हैं और 0.35 प्रतिशत वेंटिलेटर पर हैं। 2.81 प्रतिशत लोगों को ऑक्सीजन दी जा रही है जबकि रिकवरी दर 63.33 प्रतिशत तक पहुंच गई है। मंत्रालय ने कहा कि देश में कोविद -19 का वास्तविक आंकड़ा तीन लाख 42 हजार 756 है जबकि 6.35 लाख से अधिक लोग इस बीमारी से ठीक हुए हैं। पिछले 24 घंटों में 22,942 लोग बरामद हुए और उन्हें अस्पतालों से छुट्टी दे दी गई।




मंत्रालय ने कहा कि वसूली दर को बढ़ाकर 63.33 प्रतिशत कर दिया गया है। देश में ठीक होने वाले मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ रही है। गुरुवार को इलाज की दर 63.25 प्रतिशत थी। मंत्रालय ने कहा कि दुनिया के दूसरे सबसे अधिक आबादी वाले देश भारत में प्रति मिलियन 727.4 मामले हैं, जो कुछ यूरोपीय देशों की तुलना में चार से आठ गुना कम है।


इसके साथ, देश में महामारी की मृत्यु दर प्रति मिलियन 18.6 है, जो दुनिया में सबसे कम है। मंत्रालय ने कहा, "यह भी उल्लेखनीय है कि 1.94 प्रतिशत मरीज आईसीयू में हैं, 0.35 प्रतिशत वेंटिलेटर पर हैं और 2.81 प्रतिशत ऑक्सीजन बिस्तर पर हैं।" कुल मामलों में से 63.33 प्रतिशत ठीक हो गए हैं।


मंत्रालय ने कहा कि यह सभी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों के समन्वित प्रयासों, डोर-टू-डोर सर्वेक्षण, संपर्क का पता लगाने, अलग-अलग क्षेत्रों की निगरानी, ​​निरंतर जांच और समय पर उपचार के कारण संभव हुआ है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि भारत ने कोविद -19 रोगियों की विभिन्न श्रेणियों के लिए देखभाल के मानक प्रोटोकॉल का अनुपालन किया है। प्रभावी नैदानिक ​​प्रबंधन नीतियों ने सकारात्मक परिणाम भी दिए हैं।


मंत्रालय ने यह भी कहा कि एन 95 मास्क और व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरणों की भी कोई कमी नहीं है। यह बताया गया कि केंद्र ने राज्य, केंद्र शासित प्रदेशों और केंद्रीय संस्थानों को 235.58 लाख एन 95 मास्क और 124.26 लाख पीपीई किट प्रदान किए हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, कोविद -19 की संख्या शुक्रवार को एक मिलियन से अधिक हो गई, जिसमें एक ही दिन में सबसे अधिक 34,956 मामले दर्ज किए गए। महज तीन दिन पहले यह आंकड़ा नौ लाख को पार कर गया था। शुक्रवार की सुबह आठ बजे तक के आंकड़ों के अनुसार, देश में कोरोना वायरस के मामलों की कुल संख्या एक लाख तीन हजार 832 हो गई है, जबकि मरने वालों की संख्या बढ़कर 25,602 हो गई है और एक दिन में मरने वालों की अधिकतम संख्या 687 तक पहुँच गया है।



मौत के खौफ से गैंगस्टर ने किया सरेंडर

एनकाउंटर के खौफ से थाने में सरेंडर करने पहुंचा गैंगस्टर.



सहारनपुर। सीएम योगी की सरकार में बदमाशों के अंदर पुलिस का खौफ साफ नजर आने लगा है। इसका ताजा उदाहरण सहारनपुर के थाना देवबंद में तब देखने को मिला जब एक गैंगस्टर में निरुद्ध बदमाश छोटन निवासी गांव लबक़री अपनी गिरफ्तारी देने खुद ही थाने पहुंच गया।आए दिन हो रहे पुलिस-बदमाशों के बीच एनकाउंटर से भयभीत बदमाश ने कहा वर्तमान में जिस तरह पुलिस आफत बनकर अपराधियों पर टूट रही है, इससे उसे भी डर सताने लगा है। गैंगस्टर में वांछित छोटन हाथ मे तख्ती लिए हुए था जिस पर लिखा हुआ था कि मेरा नाम छोटन है और में लबकरी गांव का रहने वाला हूं और मैं कभी भी भविष्य में अपराध नहीं करूंगा।
रिपोर्ट:अंकुर गर्ग/आस मोहम्मद


दिल्ली में बिना मास्क ₹500 का जुर्माना

प्रदीप उज्जैनी


उत्तरी बाहरी दिल्ली।अलीपुर थाना पुलिस ने बगैर मास्क लगाए लोगों के चालान काटे जिसमें दुपहिया वाहन कार चालक टेंपो चालक सवार थे।


कोरोना महामारी के चलते दिल्ली पुलिस भी लगातार सक्रिय है और लोगों के चालान काट रही है लेकिन उसके बावजूद भी लोग बगैर मास्क लगाए घर से बाहर निकल आते हैं। जिसके चलते दिल्ली पुलिस सब लोगों के चालान काट रही है चालान के दौरान लोगों से 500 रुपये का जुर्माना लिया जा रहा है। जिसके चलते अलीपुर थाना पुलिस ने कल शाम करीब 42 लोगों के चालान काटे हैं। इससे पहले भी इसी तरह की मुहिम अलीपुर थाना पुलिस ने चलाई थी और लोगों के चालान काटे थे।               


छत्तीसगढ़ में लॉकडाउन पर विचार-विमर्श

रायपुर। छत्तीसगढ़ में कोरोना से जुड़ी एक बड़ी खबर आ रही है। आज रात से राज्य में संपूर्ण लॉकडाउन लग सकता है। आज शाम मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने मंत्रियों की बैठक बुलाय़ी है। बैठक में प्रदेश में 15 दिन का लॉकडाउन लागू करने का फैसला किया जा सकता है। राज्य सरकार ने अपने स्तर से इसकी पूरी तैयारी कर ली है। आज मंत्रियों की बैठक के बाद संपूर्ण लॉकडाउन का ऐलान किया जा सकता है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने शाम 4 बजे सीएम हाउस में ये बैठक बुलायी है। इस बैठक का पूरा एजेंडा ही कोरोना से जुड़ा है। लिहाजा कोरोना के मद्देनजर तैयारियों की समीक्षा के साथ-साथ लॉकडाउन पर चर्चा की जायेगी।


आपको बता दें कि प्रदेश में लगातार कोरोना के आंकड़े बढ़ रहे हैं। खासकर राजधानी रायपुर में पिछले एक महीने से कोरोना की जो रफ्तार हुई है, वो धीमी पड़ती नहीं दिख रही है। कल तो प्रदेश ने कोरोना के सारे रिकार्ड तोड़ दिये, एक ही दिन में कोरोना से 242 मरीज मिले थे, जिसमें से 127 मरीज सिर्फ राजधानी रायपुर से थे। कोरोना के बढ़े खतरे और कोरोना के साइकिल को तोड़ने के लिए राज्य सरकार एक और लॉकडाउन प्रदेश में लागू करने जा रही है।


हालांकि लॉकडाउन का स्तर किस तरह का होगा ? किस तरह की सेवाओं को छूट दी जायेगी? बाजार में किन-किन दुकानों को खोलने की इजाजत दी जायेगी, इसे लेकर बैठक में चर्चा की जायेगी। हालांकि विश्वस्त सूत्र ने इस बात की पुष्टि की है कि प्रदेश में लाकडाउन 15 दिन का किया जा सकता है।               


मंदिर ट्रस्ट, पुजारीयों सहित 140 संक्रमित

आंध्र प्रदेश के तिरुपति बालाजी मंदिर में कोरोना का कहर तेजी से बढ़ रहा है। अभी तक मंदिर के 14 पुजारी समेत ट्रस्ट के 140 से ज्यादा लोग संक्रमण की चपेट में आ चुके हैं।



तिरुपति। कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए अब कुछ दिन के लिए मंदिर में दर्शन बंद करने की मांग की जा रही है। हालांकि, ट्रस्ट ने फिलहाल इस पर कोई फैसला नहीं लिया है।


 बता दें कि अनलॉक-1 के तहत 8 जून को मंदिर फिर से खोला गया था। 11 जून से आम लोगों के लिए खोला गया। 13 जून से मंदिर के स्टाफ में कोरोना के मामले सामने आने लगे थे। शुरुआत में यहां श्रद्धालुओं की संख्या तेजी से बढ़ी लेकिन मंदिर में कोरोना का असर देखते हुए अब भीड़ कम होने लगी है। अभी हर दिन 8 से 9 हजार श्रद्धालु दर्शन के लिए मंदिर पहुंच रहे हैं।


मंदिर में कोरोना बढ़ने के बाद अब दर्शन बंद करने की मांग उठ रही है। कर्मचारी संगठनों ने भी ट्रस्ट से मांग की है, संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए फिलहाल मंदिर को बंद किया जाए। राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री एन. चंद्रबाबू नायडू ने भी आंध्र प्रदेश सरकार से मांग की है कि स्थिति बिगड़ने से पहले जरूरी कदम उठाए जाने चाहिए। वहीं तिरुमाला तिरुपति देवस्थानम बोर्ड के अध्यक्ष वाईवी सुब्बा रेड्डी ने कहा है कि, फिलहाल मंदिर में सार्वजनिक दर्शन को रोकने की कोई योजना नहीं। स्थिति अभी नियंत्रण में है, इसलिए मंदिर फिर से बंद करने का कोई मतलब नहीं। जो कर्मचारी संक्रमित पाए गए हैं, उन्हें क्वारंटाइन किया गया है।               




आईआईटी में प्रवेश लेना होगा आसान

प्रमोद मिश्रा


नई दिल्ली। दिन की शुरुआत अच्छी खबरों से होनी चाहिए। आज की अच्छी खबर यह है कि अब इस बार IIT में एडमिशन और भी आसानी से होगी इसकी जानकारी खुद केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने ट्वीट कर दी है ।


मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने शुक्रवार को घोषणा की कि कोरोना के चलते विभिन्न बोर्डों द्वारा 12वीं कक्षा की परीक्षा को आंशिक रूप से रद्द करने की वजह से इस साल भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) ने प्रवेश मानदंडों में छूट देने का निर्णय किया है।
एचआरडी मंत्री निशंक ने इसको लेकर ट्वीट किया है। निशंक ने अपने ट्वीट में लिखा है कि आईआईटी में दाखिले के लिए जेईई एडवांस में पास होने होने के अलावा 12वीं बोर्ड की परीक्षा में न्यूनतम 75 प्रतिशत अंक प्राप्त करने होते थे या फिर पात्रता परीक्षा में शीर्ष 20 पर्सेंटाइल में स्थान बनाना होता था। निशंक ने अपने एक अन्य ट्वीट में लिखा, “बोर्डो द्वारा 12वीं कक्षा की परीक्षा को आंशिक रूप से रद्द करने के मद्देनजर संयुक्त नामांकन बोर्ड (जेएबी) ने इस बार जेईई एडवांस 2020 पास छात्रों के लिए प्रवेश मानदंडों में छूट देने का फैसला किया है।
देश-दुनिया के किस हिस्से में कितना है कोरोना का कहर?
एक अन्य ट्वीट में निशंक ने लिखा, “ऐसे पात्र उम्मीदवार जिन्होंने 12वीं कक्षा की परीक्षा पास की है, वे दाखिला लेने के पात्र होंगे और उन्हें मिले अंकों से कोई फर्क नहीं पड़ेगा।
बता दें कि इससे पहले जानकारी सामने आई थी कि इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (आईआईटी) जेईई एडवांस परीक्षा के सिलेबस को कम करने और प्रवेश परीक्षा फॉर्मेट को बदलने पर चर्चा करेगा। बता दें कि इस साल, आईआईटी दिल्ली जेईई एडवांस परीक्षा का आयोजन कर रहा है।             


11 संक्रमित, एसएसपी ने मेस बंद कराया

रायबरेली। महराजगंज में कोरोना संक्रमण का दायरा बढ़ता जा रहा है। शुक्रवार को 11 लोगों में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई। इनमें चार पुलिस कर्मी भी शामिल हैं। एक संक्रमित पुलिस कर्मी एसपी कार्यालय में डायल-112 के टेलीफोन ड्यूटी में तैनात था। वहीं दो संक्रमित सिपाही कोतवाली में तैनात थे। वे दोनों बाहर रहते थे। एसपी आवास में बने उसी गारद के मेस में भोजन करते थे, जहां का कुक कोरोना पॉजिटिव मिला था। एसपी ने एहतियात के तौर पर गारद के मेस को बंद करा दिया है। पुलिस कार्यालय और कोतवाली में तीन पुलिस कर्मियों के संक्रमित मिलने से महकमे में हड़कंप मच गया है। कोतवाली के पुलिस कर्मी संदेह में अपना कोरोना टेस्ट खुद ही कराए थे, लेकिन वह सूचना नहीं दिए थे। नियमित रूप से ड्यूटी कर रहे थे। यह भी बताया जा रहा है कि शुक्रवार को दोनों की वीआईपी ड्यूटी भी लगी थी। उसी दौरान रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद दोनों के अलावा पुलिस कार्यालय में डायल-112 के टेलीफोन ड्यूटी में तैनात पुलिस कर्मियों को इलाज के लिए कोविड केयर हॉस्पिटल भेज दिया गया। चौथा संक्रमित पुलिस लाइन में तैनात था। उसे भी इलाज के लिए भेजा गया है। खांसी ना बुखार, पर जांच में मिल रहे संक्रमित बिना मास्क लगाए घर से बाहर निकलने वाले व सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं करने वाले अब चेत जाएं। क्योंकि कोरोना संक्रमित ऐसे लोग भी मिल रहे हैं जिनको न तो सर्दी-जुखाम हुआ है और ना ही खांसी या बुखार से पीड़ित हैं। देखने में पूरी तरह स्वस्थ हैं। लेकिन जांच में संक्रमित मिल रहे हैं। शुक्रवार को आई जांच रिपोर्ट में चार पुलिस कर्मी संक्रमित मिले हैं। सभी को इलाज के लिए कोविड केयर हॉस्पिटल पुरैना भेज दिया गया है। पुलिस कर्मियों की नियमित जांच कराई जा रही है। एहतियात के तौर पर गारद के मेस को बंद करा दिया गया है।              


महिला पार्षद ने आयुक्त पर चप्पल उठाई

मथुरा। उत्तर प्रदेश के मथुरा में एक पार्षद ने बीच बैठक में नगर आयुक्त को ही चप्पल मार दी। शुक्रवार को मथुरा नगर निगम की बैठक में किसी बात से खफा होकर भाजपा पार्षद दीपिका रानी सिंह ने नगर आयुक्त रविंद्र कुमार को चप्पल मारी। हालांकि चपप्ल नगर आयुक्त को ना लगकर उनके पीए को जाकर लगी। बैठक में मौजूद दूसरे नेताओं और कर्मचारियों ने किसी तरह बीच-बचाव किया।


मथुरा के मुकुंद पैलेस में शुक्रवार को मथुरा वृन्दावन नगर निगम की बजट बोर्ड बैठक बुलाई गई थी। पार्षद अपने अपने वार्डों में प्रस्तावित और हुए विकास कार्यों को लेकर हंगामा करने लगे। इसी बीच वार्ड 24 की पार्षद दीपिका रानी सिंह मंच पर बैठे नगर आयुक्त रविंद्र कुमार मांदड़ के पास पहुंचीं। दीपिका रानी का कहना है कि, उन्होंने वार्ड में हुए कार्यां की सूची और कुछ अन्य समस्याओं को लेकर नगर आयुक्त से बात की तो उन्होंने हाथ पकड़कर झटका और कहा कि चल बैठ जा।इस पर मुझे गुस्सा आ गया।


नगर आयुक्त ने पार्षद पर एफआईआर के लिए तहरीर दी है। नगर आयुक्त ने कहा कि बैठक शुरू होने से पहले ही पार्षद दीपिका रानी ने हंगामा शुरू कर दिया था। उन्होंने मुझसे और अन्य अधिकारियों से गाली गलौच भी की। जब पीए ने समझाया तो उसको चपल्लों से पीटा गया। इस मामले में एफआईआर दर्ज करा कर वैधानिक कार्रवाई कराई जाएगी।               


राजस्थान में राष्ट्रपति शासन लगना चाहिए


  • मायावती ने कहा- राजस्थान के राज्यपाल को मसले को खुद नोटिस में लेकर राष्ट्रपति शासन लगाने की सिफारिश करनी चाहिए

  • मायावती इससे पहले भी मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पर हमलावर रहीं, बसपा विधायकाें को कांग्रेस में शामिल कराने पर विरोध जताया था


लखनऊ। उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री और बहुजन समाज पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने राजस्थान की सियासी उठापटक पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को निशाने पर लिया है। मायावती ने राजस्थान की राजनीतिक अस्थिरता को लेकर वहां राष्ट्रपति शासन लगाने की मांग की। उन्होंने कहा कि राजस्थान में राजनीतिक गतिरोध और सियासी उठापटक काे राज्यपाल खुद नोटिस में लाएं। उन्हें राष्ट्रपति शासन लगाने की सिफारिश करनी चाहिए, ताकि राज्य में लोकतंत्र की और ज्यादा दुर्दशा न हो।


बसपा प्रमुख ने ट्वीट में कहा कि राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने पहले दलबदल कानून का खुला उल्लंघन किया। बसपा के साथ लगातार दूसरी बार धोखेबाजी की और हमारी पार्टी के विधायकों को कांग्रेस में शामिल कराया। अब जगजाहिर तौर पर फोन टेप कराके इन्होंने एक और गैर-कानूनी और असंवैधानिक काम किया है।


कोटा में 105 बच्चों की मौत पर गहलोत को हटाने की मांग की थी
इससे पहले मायावती ने दिसंबर में कोटा के अस्पताल में लगातार बच्चों की मौतों पर सवाल उठाया था। उन्होंने कांग्रेस से गहलोत को मुख्यमंत्री पद से हटाए जाने की भी मांग की थी। मायावती ने ट्वीट कर लिखा था- 100 माताओं की कोख उजड़ने के मामले में कांग्रेस को केवल अपनी नाराजगी जताना ही काफी नहीं है। कांग्रेस को चाहिए कि वहां के मुख्यमंत्री को तुरंत हटाकर किसी सही व्यक्ति को सत्ता में बैठाया जाए।


2018 में भी गहलोत से नाराजगी जताई थी
बसपा प्रमुख मायावती मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को लेकर पहले भी नाराजगी जता चुकी हैं। 2018 में राजस्थान में हुए विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को 200 सीटों में 100 पर जीत मिली थी। उसके सहयोगी राष्ट्रीय लोकदल का एक विधायक जीता था। इससे राज्य में सरकार गिरने का खतरा मंडरा रहा था। वहीं, बसपा के 6 विधायक चुनाव जीते थे। इन सभी विधायकों ने बसपा छोड़कर कांग्रेस की सदस्यता ले ली। इससे मायावती ने कांग्रेस और गहलोत पर खासी नाराजगी जताई थी।


राजस्थान में इन विधायकों ने कांग्रेस जॉइन की थी
बसपा से चुनाव जीते राजेन्द्र गुढा (उदयपुरवाटी, झुंझुनूं), जोगेंद्र सिंह अवाना (नदबई, भरतपुर), वाजिब अली (भरतपुर), लाखन सिंह मीणा (करौली), संदीप यादव (तिजारा, अलवर) और दीपचंद खेरिया (किशनगढ़बास, अलवर) ने सितंबर 2018 में पार्टी छोड़ दी थी।             


ओडीएफ के विरुद्ध शुरू घूंघट से बगावत

धर्मेन्द्र कुमार कन्नौजिया की रिपोर्ट


लखनऊ। वर्ष 2018 में उत्तर प्रदेश राज्य का कुशीनगर जनपद ओडीएफ (खुले में शौच से मुक्त) घोषित कर दिया गया लेकिन जमीनी हकीकत सरकारी दावे से कोसों दूर है। शौचालय नहीं होने से जंगल जगदीशपुर टोला भरपटिया में लगभग डेढ़ दर्जन बहुएं ससुराल छोड़कर मायके चली गयीं हैं। दुल्हनों का कहना है कि शौचालय के बगैर उन्हें काफी दिक्कत हो रही थी। दुल्हनों का कहना है कि जबतक ससुराल में शौचालय नहीं बन जाता है तबतक मायके में ही रहेगी. ‘घुंघट’ की इस बगावत ने स्वच्छ भारत मिशन की सारी पोल खोलकर रख दी है।


जानकारी के मुताबिक, जिले के साथ ही जंगल जगदीशपुर गांव भी ओडीएफ हुआ था लेकिन इस गांव के टोला भरपटिया के अधिकतर गरीबों के पास आज भी शौचालय नहीं है। गांव के ग्राम प्रधान और जिला पंचायतराज अधिकारी एमआईएस और सूची का हवाला दे रहे हैं लेकिन सवाल ये है कि किन परिस्थितियों में इन गरीबों का नाम सूची में नहीं शामिल हुआ है इसका जबाब किसी के पास नहीं है।


स्वच्छ भारत मिशन के तहत कुशीनगर जनपद में तकरीबन 4 लाख शौचालय बनने थे। कुशीनगर जनपद को 30 नवंबर 2018 को ओडीएफ घोषित कर दिया गया। ओडीएफ मतलब सभी शौचालयों का निर्माण शत प्रतिशत करा दिया गया है। परंतु इस सरकारी दावे पर से पडरौना विकास खंड के जंगल जगदीशपुर टोला भरपटिया की लगभग डेढ़ दर्जन बहुओं ने पर्दा हटा दिया है। भरपटिया टोले की यह बहुएं ससुराल छोड़कर मायके इसलिए चली गईं है क्योंकि घर में शौचालय नहीं है और उन्हें नित्य जरूरत के लिये तमाम दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा था। शौचालय निर्माण का सच सामने लाने वाली इन बहुओं का कहना है कि गांव के एक तरफ नाला है तो दूसरी तरफ नहर। चारों तरफ पानी लगता है. जिससे बहुत दिक्कतें आती हैं। जबतक ससुराल में शौचालय नहीं बन जाता है तबतक मायके में ही रहेंगी। बता दें कि टोला भरपटिया की आबादी तकरीबन 1000 है और यहां गरीब तपके के लोग निवास करते हैं। गरीबों की बस्ती होने के बाद भी अधिकतर के पास शौचालय नहीं है।


जिला पंचायतराज अधिकारी राघवेंद्र द्विवेदी और ग्राम प्रधान दोनों का कहना है जितने लोगों का एमआईएस हुआ था और जितने लोगों का नाम सूची में था, सबका शौचालय बन गया है। लेकिन सच्चाई यह है कि एमआईएस कराने की जिम्मेदारी भी ग्राम प्रधान, ब्लॉक और डीपीआरओ के ही कंधों पर होती है। सूची भी इन्हीं की देखरख में बनी है।


मायके गई गांव की बहू रीना का कहना है कि हमारे ससुराल में शौचालय नहीं बना है जिसके कारण दिक्कत हो रही थी इसलिए मायके चले आएं हैं। शौचालय बन जायेगा तो ससुराल चले जायेंगे। वहीं, मायके गई बहू ज्योति का कहना है कि ससुराल में शौचालय न होने के कारण मायके आई हूं। शौचालय बनेगा तो वापस जाऊंगी नहीं बनेगा तो नहीं जाऊंगी। जिला पंचायत अधिकारी राघवेंद्र द्विवेदी का कहना है कि जानकारी मिलने के बाद गांव में पहुंचकर जांच की तो दो बहुएं नार्मल तरीके से मायके गई हैं। हां, कह सकते हैं कि उनके पास शौचालय नहीं था। कुछ गांववालों का लाइन सर्वे में नाम न होने के कारण उनका शौचालय नहीं बन पाया था।


यूपीबोर्डः 30 फ़ीसदी पाठ्यक्रम किया कम

नई दिल्ली/लखनऊ। कोरोना वायरस के चलते बिजनेस से लेकर पढ़ाई तक सब प्रभावित हुई है। इसके कारण बच्चों की पढ़ाई काफी प्रभावित हुई है। ऐसे में यूपी बोर्ड ने छात्रों को राहत देने के लिए बड़ा कदम उठाया है।


दरअसल, कोरोना महामारी के चलते देशभर में स्कूल अभी तक खुले नहीं हैं। यूपी बोर्ड के स्कूल भी अभी तक बंद हैं। इनके आने वाले दिनों में भी खुलने की उम्मीद नहीं के बराबर है। ऐसे में यूपी बोर्ड ने स्टूडेंट्स के सिर से पढ़ाई का बोझ कम करने का फैसला लिया है। इसके कारण यूपी बोर्ड ने नौवीं क्लास से बारहवीं क्लास तक के सिलेबस में 30 फीसदी की कटौती कर दी है।


यूपी बोर्ड ने कोरोना के चलते छात्रों की पढ़ाई प्रभावित होने के चलते हालात की गंभीरता को देखते हुए 9वीं से 12वीं क्लास तक के सिलेबस 30 फीसदी कम कर दिए हैं। बाकी बचे 70 फीसदी सिलेबस को अब तीन भाग में पढ़ाया जाएगा। उत्तर प्रदेश बोर्ड की नियामक संस्था माध्यमिक शिक्षा परिषद ने नियमित कक्षाएं न शुरू हो पाने की समस्या को देखते हुए सरकार से सिलेबस कम करने की अपील की थी और प्रस्ताव भेजा था। जिस प्रस्ताव पर शासन ने अपनी मुहर लगा दी है। अब छात्रों को तीस फीसदी कम सिलेबस पढ़ना होगा।             


सितंबर से आईपीएल शुरू होने की कवायद

नई दिल्ल। कोरोना वायरस की वजह से आईपीएल के आयोजन को अनिश्चितकाल के लिए टाल दिया गया था, लेकिन इसके बाद आईपीएल के आयोजन को लेकर कयासों का बाजार गर्म हो गया, और ये कहा जाने लगा कि बीसीसीआई आईपीएल से होने वाले नुकसान को झेलने की स्थिति में नहीं है, और इस साल आईपीएल का आयोजन कराने की सोच रहा है। फिर चाहे वो दूसरे देश में ही क्यों न कराना पड़ा। और अब मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो  बीसीसीआई ने आईपीएल के आयोजन का शेड्यूल बना लिया है, और इसका आयोजन इस बार भारत से बाहर होने वाला है, जो मीडिया रिपोर्ट्स आ रही है उसके मुताबिक आईपीएल यूएई में खेला जाएगा, भारत में लगातार कोरोना वायरस के मामले बढ़ने के कारण ये फैसला लेना पड़ा है।


मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो बीसीसीआई इस बार आईपीएल का आयोजन यूएई में कराने जा रहा है, और वहां कराने के लिए बीसीसीआई अब मंजूरी लेने में लगा हुआ है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक बीसीसीआई ने तो आईपीएल का पूरा शेड्यूल भी तैयार कर लिया है, टूर्नामेंट यूएई में 26 सितंबर को शुरू होगा, और 6 नवंबर को आईपीएल का फाइनल मैच खेला जाएगा। आईपीएल का पूरा शेड्य़ूल अगस्त के पहले हफ्ते में जारी किया जा सकता है। इससे पहले गुरुवार को ऐसी खबरें भी आईं थी कि आईपीएल में हिस्सा लेने वाले सभी भारतीय क्रिकेटर 5 हफ्ते की ट्रेनिंग के लिए यूएई जा सकते हैं। ट्रेनिंग कैंप खत्म होने के बाद आईपीएल फ्रेंचाइजियों को अपने ट्रेनिंग कैंप लगाने का मौका दिया जाएगा।


गौरतलब है कि अगर यूएई में आईपीएल का ये सीजन आयोजित किया जाता है, ऐसा दूसरी बार होगा, इससे पहले साल 2014 में आईपीएल का पहला राउंड खेला गया था, तब अबु धाबी, दुबई और शारजाह में मुकाबले हुए थे, और तब आम चुनाव की वजह से फैसला लिया गया था। लेकिन इस बार भारत में लगातार बढ़ते कोरोना वायरस की वजह से ये फैसला लिया जा रहा है, यूएई में आईपीएल के आयोजन का स्थल चुनने की वजह ये माना जा रहा है कि दुबई पूरी दुनिया से जुड़ा हुआ है, वहां पूरी दुनिया की उड़ानें आती हैं, इसलिए विदेशी खिलाड़ियों को ब्रिटेन, ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड, साउथ अफ्रीका, वेस्टइंडीज से यूएई लाना आसान होगा। बहरहाल ये तो मीडिया रिपोर्ट्स पर आधारित खबर है, अब देखना ये है कि बीसीसीआई इसका औपचारिक ऐलान कब करता है।           


सुरक्षाबलों ने 3 आतंकियों को मार गिराया

श्रीनगर। आतंकियों के खिलाफ जारी अभियान में सुरक्षाबलों को आज फिर कामयाबी मिली है। जम्मू-कश्मीर में शोपियां के अमशिपोरा इलाके में सुरक्षाबलों ने 3 आतंकियों को मार गिराया है। 24 घंटे में जवानों ने कुल 6 आतंकियों को ढेर कर दिया। एनकाउंटर अभी जारी है।


दहशतगर्दों के छिपे होने के इनपुट पर आर्मी और पुलिस के जवानों ने सर्च ऑपरेशन शुरू किया था। इस बीच आतंकियों ने फायरिंग शुरू कर दी। 24 घंटे में सिक्योरिटी फोर्सेज ने 6 आतंकी ढेर कर दिए हैं। शुक्रवार को कुलगाम जिले के नागनाद शिमर इलाके में जैश-ए-मोहम्मद के 3 आतंकी मार गिराए थे, इनमें एक पाकिस्तानी था। सेना ने शुक्रवार को बताया कि आतंकी अमरनाथ यात्रा को निशाना बनाने की योजना बना रहे हैं, लेकिन हमारे जवान उन्हें कामयाब नहीं होने देंगे।


ऐश्वर्या-आराध्या की तबीयत बिगड़ी, भर्ती

मुंबई। कोरोना वायरस के चलते ऐश्वर्या और आराध्या बच्चन को शुक्रवार देर रात मुंबई स्थित नानावटी अस्पताल में भर्ती कराया गया है। हाल ही में बच्चन परिवार के चार सदस्य कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे, जिसके बाद अमिताभ बच्चन और अभिषेक बच्चन को अस्पताल में एडमिट कराया गया। अभी तक ऐश्वर्या और आराध्या होम क्वारंटाइन थीं और कोरोना का इलाज कर रही थीं।


बता दें कि इससे पहले अभिषेक ने ट्वीट कर बताया था, ‘ऐश्वर्या और आराध्या बच्चन का भी कोरोना वायरस टेस्ट पॉजिटिव आया है। वह लोग घर पर ही सेल्फ क्वारंटाइन हैं। पूरी परिस्थिति की जानकारी दे दी गई है और वह सभी चीजों का ध्यान रख रहे हैं। बाकी परिवार में मां को मिलाकर सभी के टेस्ट नकारात्मक आए हैं। आप की चिंताओं और प्रार्थनाओं के लिए धन्यवाद’।


एक्टर के चारों बंगले- जलसा, जनक, वत्सा और प्रतीक्षा, सभी को बीएमसी ने सील कर दिया है। बाहर कंटेनमेंट जोन का बोर्ड लगा दिया है। अमिताभ बच्चन के 26 स्टाफ मेंबर्स का स्वैब टेस्ट हुआ। बताया जा रहा है कि सभी की रिपोर्ट्स नेगेटिव आई हैं।                  


कांग्रेस विधायक भाजपा में हुई शामिल

भोपाल। नेपानगर से कांग्रेस के टिकट पर चुनाव जीतकर पहली बार विधायक बनी सुमित्रा कासडेकर विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफा देने के 6 घंटे के अंदर भाजपा में शामिल हो गई हैं। पार्टी के प्रदेश कार्यालय पं. दीनदयाल परिसर में आयोजित एक कार्यक्रम में मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान, प्रदेश अध्यक्ष व सांसद विष्णुदत्त शर्मा ने उन्हें पार्टी का दुपट्टा पहनाकर विधिवत पार्टी में शामिल किया।
इस मौके पर कासडेकर ने कहा कि कांग्रेस ने विकास के कामों में रुचि नहीं ली और हमेशा उनकी उपेक्षा की। क्षेत्र के विकास के लिए विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफा देकर वे भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो रही हैं।


विधायकों से मिलते नहीं थे कमलनाथ


भाजपा में शामिल होते ही सुमित्रा कासडेकर ने कांग्रेस और पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश में जब कांग्रेस की 15 महीने की सरकार थी, तब विधायक होने के नाते क्षेत्र के विकास को लेकर मैं मुख्यमंत्री कमलनाथ से मिलने भोपाल जाती थी लेकिन मुख्यमंत्री को विधायकों से मिलने की फुरसत ही नहीं होती थी। क्षेत्र में विकास कार्य ठप्प थे। हमारी कोई सुनवाई नहीं होती थी। कासडेकर ने कहा कि कांग्रेस ने हमेशा मेरे साथ उपेक्षा का व्यवहार किया है। उन्होंने कहा कि क्षेत्र के विकास के लिए ही मैंने भारतीय जनता पार्टी की सदस्यता ग्रहण की है।


कांग्रेस डूबता हुआ सूरज


सदस्यता ग्रहण समारोह में संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में भारतीय जनता पार्टी विकास के मंत्र को लेकर चल रही है और अब हम सब मिलकर प्रदेश के विकास के लिए काम करेंगे। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के शासनकाल में जनप्रतिनिधियों का दम घुट रहा था, क्योंकि विकास कार्य ठप थे। जनता का कल्याण और क्षेत्र के विकास की तड़प उनके मन में रही है, कांग्रेस डूबता हुआ सूरज है। इसमें वर्षों से एक ही परिवार का नेतृत्व रहा है। एक नेता अध्यक्ष, सीएम और नेता प्रतिपक्ष सभी पदों पर कब्जा जमाते हैं। विकास और जनकल्याण भारतीय जनता पार्टी सरकार की प्राथमिकता रही है और सुमित्रा देवी कासडेकर ने क्षेत्र के विकास को लेकर भारतीय जनता पार्टी की सदस्यता ग्रहण की है।
उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी दल न होकर परिवार है और सुमित्रा देवी कासडेकर ने विधानसभा की सदस्यता से त्यागपत्र देकर जिस भावना और संकल्प के साथ भाजपा की सदस्यता ली है, उस भावना का इस परिवार में सदैव सम्मान किया जाएगा।
प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा ने कहा कि प्रदेश में कांग्रेस के 15 महीने के कुशासन से जनप्रतिनिधि त्रस्त थे। कमलनाथ और दिग्विजय सिंह ने प्रदेश को गर्त में ले जाने का काम किया। जनप्रतिनिधियों ने क्षेत्र के विकास के लिए जो कल्पना की थी, उसे कांग्रेस सरकार ने पूरा नहीं किया, जिससे जनप्रतिनिधियों का कांग्रेस से मोह भंग होता गया।              


गहलोत ने पायलट गुट को चौतरफा घेरा

जयपुर। राजस्थान में कांग्रेस पार्टी के बागी विधायकों या सचिन पायलट को हाईकोर्ट से शुक्रवार को भले ही अंतरिम राहत मिली हो लेकिन प्रदेश के अशोक गहलोत सरकार ने उन्हें चौतरफा घेरना शुरू कर दिया है। सरकार के मुख्य सचेतक महेश जोशी ने शुक्रवार को एसओजी (SOG) में एफआईआर दर्ज कराने के साथ ही भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (ACB) में भी एफआईआर दर्ज करा दी है। इस बारे में एसओजी के डीजी आलोक त्रिपाठी की ओर कहा गया है कि ब्यूरों में जो एफआईआर दर्ज की गई है वो भ्रष्टाचार को लेकर हुई है। हॉर्स ट्रेडिंग मामले दोनों जांच एजेंसियों में पहले से ही जांच कर रही है और अब सरकार ऑडियो क्लिप्स मामले में भी कानूनी शिकंजा कसने की तैयारी में है।


ऑडियो क्लिप मामले में संजय जैन की गिरफ्तारी
राजस्थान पुलिस के विशेष कार्यबल यानी एसओजी ने शुक्रवार को राजस्थान में अशोक गहलोत सरकार को अस्थिर करने के लिये विधायकों की खरीद फरोख्त वाले ओडियो टेप में कथित रूप से नाम आने पर संजय जैन को गिरफ्तार कर लिया है। अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (एटीएस एवं एसओजी) अशोक राठौड के अनुसार जैन को सोशल मीडिया पर वायरल हुई ऑडियो रिकॉर्डिंग के आधार पर दर्ज प्राथमिकी के सिलसिले में पूछताछ के बाद गिरफ्तार किया गया है।


2 दिन तक पूछताछ फिर गिरफ्तार
पुलिस के अनुसार जैन को बृहस्पतिवार और शुक्रवार को पूछताछ के बाद गिरफ्तार किया है। गहलोत सरकार को गिराने के कथित षडयंत्र वाले सोशल मीडिया पर वायरल हुए तीन ओडियो टेप में से एक टेप में कांग्रेस विधायक भंवरलाल शर्मा, गजेन्द्र सिंह और संजय जैन के बीच कथित बातचीत के खिलाफ जांच की मांग को लेकर कांग्रेस के मुख्य सचेतक महेश जोशी की ओर से देशद्रोह का मामला दर्ज करवाया गया था। एसओजी ने विधायकों की कथित खरीद फरोख्त और कथित ओडियो टेप रिकार्डिंग मामले में भारतीय दंड संहिता की धारा 124 ए (देशद्रोह) और 120 बी (षड़यंत्र)के तहत शुक्रवार को दो प्राथमिकी दर्ज की।


पायलट गुट को हाईकोर्ट से 4 दिन की राहत
राजस्थान हाईकोर्ट ने विधानसभा अध्यक्ष के नोटिस के खिलाफ बागी विधायकों की याचिका पर शुक्रवार को सुनवाई के बाद आगे की कार्रवाई सोमवार तक के लिए स्थगित कर दी थी। इससे सचिन पायलट और कांग्रेस के 18 अन्य बागी विधायकों को जारी अयोग्यता नोटिसों पर विधानसभा अध्यक्ष की किसी कार्रवाई से शुक्रवार को चार दिनों के लिए राहत मिल गई। हालांकि, सोमवार को सुबह दस बजे स्पीकर की ओर से वकील अभिषेक मनु सिंघवी पैरवी करेंगे और इसके बाद ही हाईकोर्ट कोई फैसला सुनाएगी।            


एक्ट्रेस शर्लिन ने शिल्पा के बयान पर रिएक्ट किया

कविता गर्ग        मुबंई। पोर्नोग्राफी केस में बिजनेसमैन राज कुंद्रा जेल में हैं। राज कुंद्रा पर अश्लील फिल्में बनाकर उन्हें ओटीटी प्लेटफॉर्म...