रविवार, 18 जुलाई 2021

हिंसा का बल, अफगान पर कब्‍जा नहीं करने देंगे

काबुल/ वाशिंगटन डीसी। अमेरिका और मध्‍य एशिया के 5 देशों ने प्रण किया कि है कि वे तालिबान को हिंसा के बल पर अफगानिस्‍तान पर कब्‍जा नहीं करने देंगे। अमेरिका और मध्‍य एशिया के 5 देशों ताजिकिस्‍तान, कजाखस्‍तान, किर्गिस्‍तान, तुर्कमेनिस्‍तान और उज्‍बेकिस्‍तान ने कहा है कि ताकत के बल पर आने वाली किसी भी नई अफगान सरकार को क्षेत्र से कोई समर्थन नहीं मिलेगा। इन सभी देशों ने एक संयुक्‍त बयान जारी करके तालिबान को यह खुली चेतावनी दी है जो लगातार हिंसक हमले करके अफगानिस्‍तान के बहुत बड़े हिस्‍से पर अपना कब्‍जा कर चुका है। सभी 6 देशों ने कहा कि आतंकवादी और तीसरे पक्ष की ताकतों को निश्चित रूप से अफगान जमीन का इस्‍तेमाल हमको या दुनिया के किसी अन्‍य देशों को धमकी देने के लिए नहीं करने देना चाहिए।
इस गठबंधन को 5+1 नाम दिया गया है और उन्‍होंने प्रण किया है कि अफगानिस्‍तान के संघर्ष को खत्‍म करने के लिए वे मिलकर काम करेंगे। उन्‍होंने कहा कि युद्ध की वजह से दक्षिण और मध्‍य एशियाई देशों का आर्थिक विकास बाधित हो गया है। यह बयान ताशकंद में हुए अंत‍रराष्‍ट्रीय सम्‍मेलन के बाद आया है। इस पर साइन करने वाले देशों ने कहा कि वे अफगान शांति प्रक्रिया के लिए स्‍थायी और समृद्ध स्थितियां बनाने पर सहमत हो गए हैं।
इन सभी देशों का मुख्‍य जोर पूरे मुद्दे के राजनीतिक समाधान पर है। इससे पहले शुक्रवार को अमेरिका, अफगान‍िस्‍तान, पाकिस्‍तान और उज्‍बेकिस्‍तान की ओर से जारी संयुक्‍त बयान में क्षेत्रीय संपर्क को बढ़ाने के लिए एक नए बहुपक्षीय राजनयिक प्‍लेटफार्म को बनाने पर सहमति बनी थी। 5+1 देशों के गठबंधन ने अफगानिस्‍तान में सुरक्षा, ऊर्जा, आर्थिक, व्‍यापार, संस्‍कृति और अन्‍य प्रयासों पर सहयोग करने का फैसला किया।

यूपी: गरीब बच्चों का छीना जा रहा है निवाला, दबंगई

अतुल त्यागी               
हापुड़। जिलें में थाना बाबूगढ़ के पास ग्राम अटूटा ब्लॉक  विकास खंड सिंभावली में आंगनबाड़ियों की दबंगई, गरीब बच्चों का निवाला छीना जा रहा है। जैसे कि आपको बता दें, कि आज ग्राम अटूटा के अंदर जो भी अपने बच्चों का राशन लेने गई महिलाएं व पुरुष तो आंगनबाड़ियों ने उन्हें घी और बच्चों का पाउडर देने से मना कर दिया और बोली महिलाओं ने पूछा तो कहा, कि पीछे से घी व पाउडर नहीं मिल रहा है। बात करने के लिए भी तैयार नहीं है। प्रशासन की आंखों में धूल झोखी जा रही हैं। आंगनवाड़ी अधिकारियों की मिलीभगत से हो रहा है।
यह सब गोरखधंधा हमने गांव की कुछ महिलाओं से पूछा तो उन्होंने कहा कि गांव के अंदर सब  चीज आती है और आंगनवाड़ी की जो मैन गांव अटूटा की अंजू अग्रवाल है। वह यह कह कर टाल देती हैं कि जब हमें पीछे से नहीं मिलता तो हम कहां से दे और तो और जिन गर्व वती महिलाओं के सरकारी अस्पताल में टीका कार्ड बने हुए है। उन्हे भी नही चढ़ाती है, गांव की आसाओ ने कहा तो वहा पर भी नहीं जाती है। अब देखना यह होगा कि प्रशासन ऐसे व्यक्तियों पर कार्रवाई करता है, या नहीं। अंजू अग्रवाल के ऊपर एक आगनवाड़ी अधिकारी है। जिस का नाम उर्मिला है, जो ये कहती है। इन से कुछ नही होगा, अपने आप देख लूंगी आप अपना काम करती रहे।
जिस में आज दर्जनों महिलाएं इकट्ठा हुई आंगन वाडी केंद्र पर प्रदर्शन किया। जिसमें रमेश ,विमलेश,सुनीता, मोनिका, स्वाति ,मोना, मीनाक्षी, लक्ष्मी, सरिता, सुनीता, मुनिया, गायत्री, राखी आदि मौजूद रही।
अब देखना ये होगा, ऐसे व्यक्तियों पर कार्रवाई होती हैं या फिर कागजों में ही सब कुछ सही कर के दिखा दिया जाएगा। जब गवर्नमेंट इन चीजों को गरीबों के लिए भेजती है तो कहां पर चला जाता है।

षड्यंत्र: मूल निवासियों के अधिकार को खतरा हैं

अश्वनी उपाध्याय              
गाजियाबाद। भारत देश के आपसी तालमेल सौहार्द को कुछ षड्यंत्र कार्यों से मूल निवासियों के हक अधिकार को खतरा है। बामसेफ के आफसूट संगठन मेरठ मंडल समीक्षा बैठक का संचालन प्रोफेसर ओमपाल सिंह एवं अध्यक्षता माननीय वामन मेश्राम ने की। मा वामन मेश्राम ने अपने वक्तव्य में कहा कि मूल निवासियों के हक अधिकार दिलाने के लिए हम लोग लगे हुए हैं। भारत देश को आजादी नहीं मिल पाई मनु वादियों ने आजाद होकर भी अपना कब्जा किया हुआ है और मूल निवासियों के हक अधिकार दबाने पर लगे हुए हैं। भारतीय संविधान को पूर्णतया लागू करने के लिए बामसेफ और आप सूट संगठन प्रयासरत हैं. मूल निवासियों को उनके हक अधिकार प्रतिनिधित्मिव मिलना चाहिए। 
जो आज तक नहीं मिल पा रहा है उसके लिए जन आंदोलन करना भी पड़ सकता है। मुख्य अतिथि के रूप में मौलाना सज्जाद नोमानी ने अपने वक्तव्य में कहा कि आज भारत देश में कुछ षड्यंत्रकारी बरसों से लगे हुए हैं कि भारतीय मूल निवासियों के आपसी तालमेल सौहार्द को खत्म करने की साजिश रचते रहते हैं। 
मूल निवासियों को बहुत सोच समझ कर चलने की जरूरत है अन्यथा देश को मनुस्मृति में धकेलने वाले अपने मिशन पर लगे हुए हैं। आने वाले चुनाव में एससी एसटी ओबीसी को एक मूल निवासियों की पार्टी को समझना होगा और अपने दुश्मन और अपनों का पता करने की क्षमता भी बनानी होगी। आज देश में बेरोजगारी महामारी बीमारी किसी का इलाज नहीं किया जा रहा। 
बल्कि आपसी सौहार्द सामाजिक तालमेल को खत्म करने पर भी सरकार आमादा है।
प्रोफेसर राजेंद्र सिंह यादव ने अपने वक्तव्य में कहा कि देश में हाहाकार मचा हुआ है। लेकिन कुछ मनुवादी धर्म की राजनीति करने पर आमादा है। देश और समाज को हिंदू मुस्लिम की खाई में धकेलना चाहते हैं। जबकि मुस्लिम हमारा खून का भाई है और इस्लाम मजहब के दुश्मन बनाने पर तुले हुए हैं। प्रोफेसर हितेश कुमार ने कहा कि शिक्षा से मोदी सरकार योगी सरकार पीछे धकेल देना चाहती है और युवाओं को बच्चों को मानसिक स्तर से कमजोर कर देना चाहती है। हम लोगों को शिक्षा की ओर अग्रसर होना चाहिए इधर-उधर वक्त जाया ना करें और समाज में आज बेरोजगारी पनप चुकी है। 
प्रदीप अंबेडकर उत्तर प्रदेश प्रभारी ने अपने वक्तव्य में कहा कि आने वाले चुनाव में मूल निवासियों के अधिकारों को दिलाने के लिए और बामसेफ एवं आप सूट संगठन की विचारधारा पर एकमात्र बहुजन मुक्ति पार्टी है और मूल निवासियों को इसका सहयोग करना चाहिए हम लोग भी इस पर विश्वास कर रहे हैं और 2022 में उत्तर प्रदेश को आजादी दिलाने के लिए पूर्ण रूप से भारतीय संविधान को बचाने के लिए एकजुट हो जाना चाहिए अन्यथा मूल निवासियों के वर्चस्व को बचाने का कोई रास्ता नहीं है।
सभी संगठनों को आह्वान किया गया कि उ प्र 2022 में बहुजन मुक्ति पार्टी को तन मन धन से मूलनिवासी पूर्ण रुप से सहयोग करें।
समीक्षा मीटिंग में राम शरण गौतम, सुनील सैनी, हरीश कश्यप, डा. एस पी सिंह कलीमुल्लाह सैफी, हाजी अतीक अहमद, मौलाना शाहनवाज, मौलाना शाहिद, गाज़ी विनोद कुमार, मनोज कुमार, अतर सिंह गुप्ता, एडवोकेट राहुल बहुजन मुक्ति पार्टी के प्रदेश मीडिया प्रभारी एवं मेरठ मंडल अध्यक्ष आर डी गादरे दिनेश कुमार, ओमवीर सिंह, विजयपाल सिंह, विजय कश्यप, मदनलाल वीरभान, एडवोकेट रामोतार, सुभाष चन्द्र मुखी, प्रदीप अम्बेडकर, आयु गीता पैट्रिक, आयु सोहनबीरी, सरपंच गजेंद्र पाल, धर्मेन्द्र कुमार सिंह, डा. सूरज पाल सिंह, इकरामुद्दीन सैफी, राम सिन्गार, मौलाना अकमल, नवीन प्रभाकर, अनिल मकवाना, मोन्टी, बाल्मीकि महेन्द्र, प्रजापति शहन्शाह, मौहम्मद सलमान, खुर्शीद गद्दी, औमकरन फूल सिंह, बौद्ध अमजद अली अन्सारी, सुरेश गौतम, संजय कुमार, वीरेन्द्र सिंह यादव, जाकिर सैफी आदि मौजूद रहे।

इत्तेहादुल मुस्लिमीन के कार्यालय का उद्घाटन किया

कौशांबी। जनपद मुख्यालय मंझनपुर के समदा रोड पर ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन के कार्यालय का उद्घाटन प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य सईद अहमद के कर कमलों द्वारा किया गया है। कार्यालय उद्घाटन के बाद जिला कार्यकारिणी का गठन कर पदाधिकारियों को जिम्मेदारी सौंपी गई है। इस मौके पर पार्टी के जिला अध्यक्ष हाजी परवेज महमूद ने पार्टी की नीतियों के बारे में उपस्थित लोगों को विस्तार से बताया है और उन्होंने कहा कि असदुद्दीन ओवैसी के निर्देशानुसार आने वाले विधानसभा चुनाव के लिए सभी कार्यकर्ता पदाधिकारी सक्रिय हो जाएं। उन्होंने कहा कि पार्टी आगामी विधानसभा के चुनाव में जिले की तीनों विधानसभा सीट पर प्रत्याशी उतारेगी और दमखम के साथ विधानसभा चुनाव लड़ेगी। 
इस मौके पर सरदार हुसैन फैजी, जाफरी सैयद, मोहम्मद मेहंदी, एडवोकेट आफताब अहमद, मोहम्मद यूनुस, सर्वेश सरोज, मोहम्मद नईम, मोहम्मद इरफान, श्याम, नारायण अली अहमद, एहतेशाम हुसैन, इसरार अहमद, कामरान शेख, इकरार अहमद सहित तमाम लोग मौजूद रहे। 
गणेश साहू 

हरियाणा मंत्रीमंडल में नहीं हुआ विस्तार व फेरबदल

राणा ओबराय             
चंडीगढ़। हरियाणा की खट्टर सरकार में मंत्रीमंडल फेरबदल की चर्चाएं मोदी मंत्रीमंडल फेरबदल से पहले चल रही है। परंतु अभी तक हरियाणा के मंत्रिमंडल में ना तो विस्तार हुआ है और ना ही फेरबदल। वैसे जब-जब हरियाणा के मुख्यमंत्री दिल्ली का दौरा करते हैं, तो हरियाणा मंत्रीमंडल विस्तार की चर्चाएं बलवान हो जाती है। फिर हर बार सीएम को खंडन करना पड़ता है। शायद इस बार चर्चाओं को असली जामा पहनाया जा सकता है। 
उच्च सुत्रो के अनुसार हरियाणा मंत्रीमंडल में फेरबदल अब कुछ दिनों में हो सकता है। यह भी सम्भव है कि मंत्रीमंडल से कुछ मंत्रियों की छटनी के साथ कुछ नए विधायको को मंत्रिपद सौंप दिया जाए। सीएम मनोहरलाल पीएम मोदी की तरह कसौटी पर खरा न उतरने वाले मंत्रियो की छुट्टी कर सकते हैं। हरियाणा में अभी दो नए मंत्रियों के लिए पद रिक्त है जिसमे एक जेजेपी कोटे से मन्त्री बनना तय है। अब देखना यह है कि किस विधायक की मन्त्री बनने की लॉटरी निकलेगी। ऐसा कौन सा मन्त्री होगा। जिसकी परफॉर्मेंस ठीक न होने के उसकी छुटी होगी। यह चर्चाएं भी सुनने को मिल रही है कि किसी बड़े मंत्री का विभाग की बदला जा सकता है।

नियम-प्रक्रिया का दायरा, हर मुद्दे पर चर्चा को तैयार

अकांशु उपाध्याय          

नई दिल्ली। संसद के सोमवार से शुरू हो रहे मानसून सत्र से पहले सरकार ने आज कहा कि वह नियम-प्रक्रिया के दायरे में हर मुद्दे पर चर्चा के लिए तैयार है। जबकि विपक्षी दलों ने पेट्रोल-डीजल की बढ़ती महँगाई के साथ कई अन्य मुद्दों पर सरकार को घेरने के लिए रणनीति तैयार की है। संसदीय सौध में ढाई घंटे से अधिक समय तक चली सर्वदलीय बैठक में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आश्वासन दिया कि सरकार सत्र के दौरान सभी मुद्दों पर सार्थक चर्चा के लिए तैयार है। संसदीय कार्य मंत्री प्रल्हाद जोशी ने बताया कि प्रधानमंत्री ने सार्थक और स्वस्थ चर्चा की उम्मीद जताई और कहा कि चर्चा शांतिपूर्ण एवं नियमों के अंतर्गत होनी चाहिए। सदस्य लोकतंत्र की परंपरा को ध्यान में रखते हुए जो मुद्दे उठाना चाहते हैं।

सरकार नियम प्रक्रिया से सभी पर चर्चा कराने के लिए तैयार है। जोशी ने कहा कि 33 दलों के 40 से अधिक नेताओं ने बैठक में हिस्सा लिया तथा विभिन्न विषयों पर चर्चा के सुझाव दिये। प्रधानमंत्री ने कहा कि जनप्रतिनिधियों, खासकर विपक्षी सांसदों के सुझाव महत्वपूर्ण हाेते हैं। क्योंकि वे ज़मीन से आते हैं। उन्होंने कहा कि इन सुझावों को चर्चा में शामिल करने से बहस समृद्ध होती है।

सर्वदलीय बैठक के समाप्त होने के बाद राज्यसभा में विपक्ष के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे की अध्यक्षता में विपक्षी नेताओं ने एक अलग कक्ष में अपनी रणनीति को लेकर बैठक की। सूत्रों के अनुसार किसानों के आंदोलन, महँगाई, बेराेजगारी, पेट्रोल-डीजल के दाम और कोरोना महामारी के संकट को लेकर विपक्ष के तेवर कड़े हैं और शुरुआत में दोनों सदनों में गतिरोध देखा जा सकता है।

वेबसाइट पर देश के खिलाफ साजिश रचने का आरोप

अकांशु उपाध्याय       

नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने ख़बरों की एक वेबसाइट पर देश के खिलाफ साजिश रचने का आरोप लगाया है। भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने रविवार को यहां एक संवाददाता सम्मेलन में कहा , "यह समाचार वेबसाइट भारत को बदनाम कर रही है। इस वेबसाइट को विदेशों से वित्तीय सहायता मिलती है। यह वेबसाइट अंतरराष्ट्रीय साजिश का हिस्सा है।" उन्होंने कहा, "इस वेबसाइट से संबंधित एक खबर आपने पढ़ी होगी कि करोड़ों रुपये विदेशों से संदिग्ध रूप से हिंदुस्तान में आए हैं। 

उसका एक ही मकसद है कि भारत सरकार को नाकाम बताकर विदेश की कुछ ताकतों का एजेंडा चलाना। आज इस समाचार वेबसाइट के बारे में जो तथ्य सामने आया है, इससे एक बात स्पष्ट है कि 'टूलकिट' केवल भारत के कुछ राजनीतिक दल चला रहे हैं, ऐसा नहीं है। बल्कि भारत के बाहर भी एक ऐसी साजिश हो रही है, जो इस 'टूलकिट' का हिस्सा है।" संबित पात्रा ने कहा कि हमारी वैक्सीन नीति को बदनाम किया जाए, यह कुचेष्टा कुछ लोगों, कुछ संस्थाओं और कुछ 'पोर्टल्स' ने की है। इस समाचार वेबसाइट को बाहरी ताकतें पैसा भेजती थीं। 

ये 'पीपीके' नाम की कंपनी के अंतर्गत आती है। इन्होंने करोड़ो रुपये के प्रत्यक्ष विदेशी निवेश को स्वीकार किया। इसमें मुख्य रूप से विदेश के तीन लोग सम्मिलित थे। इसके अलावा करीब 30 करोड़ रुपये इन्होंने विदेशों की अलग-अलग एजेंसियों से प्राप्त किया। उन्होंने आरोप लगाया कि मीडिया की चादर ओढ़कर पोर्टल चलाने वाले कुछ तथाकथित कार्यकर्ता हैं। जिनके साथ कुछ विदेशी ताकतें हैं और भारत के कुछ बड़े राजनीतिक दलों के नेता भी हैं। इनका एक समूह बना है। पूरे सामंजस्य के साथ ये काम करते हैं। इनका मकसद होता है देश में भ्रम, अराजकता फैलाना।

विश्व में संक्रमित संख्या-18.99 करोड़ से अधिक हुईं

वाशिंगटन डीसी। विश्वभर में कोरोना वायरस (कोविड-19) महामारी के संक्रमितों की संख्या बढ़कर 18.99 करोड़ से अधिक हो गई है और अब तक इसके कारण 40.82 लाख से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। अमेरिका की जॉन हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी के विज्ञान एवं इंजीनियरिंग केंद्र (सीएसएसई) की ओर से जारी ताजा आंकड़ों के अनुसार दुनिया के 192 देशों एवं क्षेत्रों में संक्रमितों की संख्या बढ़कर 18 करोड़ 99 लाख 98 हजार 957 हो गयी है जबकि 40 लाख 82 हजार 349 लोग इस महमारी से जान गंवा चुके हैं। विश्व में महाशक्ति माने जाने वाले अमेरिका में कोरोना वायरस की रफ्तार फिर से तेज हो गई है। यहां संक्रमितों की संख्या 3.40 करोड़ से अधिक हो गयी है और 6.08 लाख से ज्यादा लोगों की मौत हो गयी है।

दुनिया में कोरोना संक्रमितों के मामले में भारत दूसरे और मृतकों के मामले में तीसरे स्थान पर है। पिछले 24 घंटों में कोरोना के 41,157 नये मामले सामने आने के साथ ही संक्रमितों का आंकड़ा बढ़कर तीन करोड़ 11 लाख छह हजार 065 हो गया है। इस दौरान 42 हजार चार मरीजों के स्वस्थ होने के बाद इस महामारी को मात देने वालों की कुल संख्या बढ़कर तीन करोड़ दो लाख 69 हजार 796 हो गयी है। सक्रिय मामले 1365 घटकर चार लाख 22 हजार 660 हो गये हैं। इसी अवधि में 518 मरीजों की मौत होने से मृतकों का आंकड़ा बढ़कर चार लाख 13 हजार 609 हो गया है। देश में सक्रिय मामलों की दर घटकर 1.36 फीसदी, रिकवरी दर बढ़कर 97.31 फीसदी और मृत्यु दर 1.33 फीसदी  के मामले में अब तीसरे स्थान पर है, जहां कोरोना संक्रमण के मामले फिर से बढ़ रहे हैं और अभी तक इससे 1.93 करोड़ से अधिक लोग प्रभावित हुए हैं जबकि 5.41 लाख से अधिक मरीजों की मौत हो चुकी है। ब्राजील कोरोना से हुई मौतों के मामले में विश्व में दूसरे स्थान पर है।

संक्रमण के मामले में फ्रांस चौथे स्थान पर है जहां कोरोना वायरस से अब तक 59.17 लाख से अधिक लोग प्रभावित हुए हैं जबकि 1.11 लाख से अधिक मरीजों की मौत हो चुकी है। रूस में कोरोना संक्रमितों की संख्या 58.60 लाख से अधिक हो गई है और इसके संक्रमण से 1.45 लाख से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है। तुर्की में कोरोना से प्रभावित लोगों की संख्या 55.22 लाख से अधिक हो गयी है और 50,488 मरीजों की मौत हो चुकी है। ब्रिटेन में कोरोना वायरस फिर पांव पसार रहा है, यहां प्रभावितों की कुल संख्या 54.07 लाख से अधिक हो गयी है और 1,28,960 लोगों की मौत हो चुकी है। मृतकों के मामले में ब्रिटेन पांचवें स्थान पर है। अर्जेंटीना में संक्रमितों की संख्या बढ़कर करीब 47.49 लाख हो गयी है तथा मृतकों की संख्या 1,01,434 हो गई है। कोलंबिया में कोरोना वायरस से 46.21 लाख से अधिक लोग प्रभावित हुए हैं और 1,15,831 लोगों ने जान गंवाई है। इटली में कोरोना प्रभावितों की संख्या 42.84 लाख से अधिक हो गयी है और 1,27,864 मरीजों की जान जा चुकी है।

स्पेन में इस महामारी से 41 लाख से अधिक लोग प्रभावित हुए हैं और 81,096 लोगों की मौत हो चुकी है। जर्मनी में वायरस की चपेट में आने वालों की संख्या 37.51 लाख से अधिक हो गई है और 91,369 लोगों की मौत हो चुकरान ने संक्रमण के मामले में पोलैंड को पीछे छोड़ दिया है और वहां संक्रमितों की संख्या बढ़कर 35.01 लाख से ज्यादा हो गयी है तथा मृतकों का आंकड़ा 86,966 तक पहुंच गया है। पोलैंड में कोरोना वायरस से 28.32 लाख से अधिक लोग प्रभावित हुए हैं और इस महामारी से 75,212 लोग जान गंवा चुके हैं।

इंडोनेशिया कोरोना मामले में मैक्सिको से आगे निकल गया है। इंडोनेशिया में कोरोना संक्रमण के मामले 28.32 लाख के पार पहुंच गये हैं जबकि 72,489 लोगों की मौत हो चुकी है। मैक्सिको में कोरोना से 26.54 लाख से अधिक लोग संक्रमित हुए हैं और यह देश मृतकों के मामले विश्व में चौथे स्थान पर है जहां अभी तक इस वायरस के संक्रमण से 2,36,240 लाख से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है। यूक्रेन में संक्रमितों की संख्या 23.17 लाख से अधिक है और 55,151 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं। इस बीच दक्षिण अफ्रीका ने पेरू को पीछे छोड़ दिया है। दक्षिण अफ्रीका में संक्रमितों की संख्या 22.83 लाख से अधिक लोग प्रभावित हुए हैं और 66,676 लोगों की मौत हो चुकी है।

पेरु में कोरोना संक्रमितों की संख्या 20.92 लाख से अधिक हो गयी है, जबकि 1,95,047 लोगों की जान जा चुकी है। नीदरलैंड में कोरोना से अब तक 18.16 लाख से अधिक लोग प्रभावित हुए हैं और यहां इस महामारी से 18,060 लोग जान गंवा चुके हैं। चेक गणराज्य में कोरोना से अब तक 16.70 लाख से अधिक लोग प्रभावित हो चुके हैं और यहां इस महामारी से 30,336 लोग जान गंवा चुके हैं। महामारी के उद्गम स्थल वाले देश चीन में 1,04,257 लोग संक्रमित हुए हैं तथा 4,848 लोगों की मौत हो चुकी है।पड़ोसी देश बंगलादेश कोरोना संक्रमितों के मामले में पाकिस्तान से आगे निकल चुका है। बंगलादेश में कोरोना वायरस से करीब 10.92 लाख से अधिक लोग संक्रमित हुए हैं और 17,669 मरीजों की मौत हो चुकी है। पाकिस्तान में अब तक कोरोना से 9.89 लाख से अधिक लोग संक्रमित हुए हैं और 22,781 मरीजों की मौत हो चुकी है। इसके अलावा दुनिया के अन्य देशों में भी कोरोना वायरस संक्रमण से स्थिति खराब है। 

दशहरी की तीन गुना अधिक कीमत चुकाने को तैयार

अकांशु उपाध्याय              
नई दिल्ली। फलों का राजा आम की मल्लिका किस्म की लोकप्रियता न केवल उत्तर प्रदेश में बढ़ी है। बल्कि इसका आकर्षक फल चौसा को टक्कर दे रहा हैं। हैरानी की बात यह है कि मल्लिका के प्रशंसक दशहरी की तीन गुना अधिक कीमत चुकाने को तैयार हैं। 
लखनऊ में आम की पसंद चौसा और लखनऊ सफेदा हैं, लेकिन इस वर्ष गोमती नगर में आप फलों की दुकानों में मुस्कुराते हुए मल्लिका के फल भी खरीद सकते हैं। इस तथ्य के बावजूद कि लखनऊ में केंद्रीय आम अनुसंधान केंद्र (अब केंद्रीय उपोष्ण बागवानी संस्थान) ने 1975 में मल्लिका के पौधों को लखनऊ में लगाया पर विगत कई दशकों तक इस किस्म के फल बाजार में उपलब्ध नहीं थे।
इसका मुख्य कारण मलिहाबाद में आम के बागों और आसपास के क्षेत्रों में मल्लिका के कम संख्या में पौधे पाए जाते हैं। बागवानो ने धीरे-धीरे महसूस किया कि मल्लिका स्वाद, रूप और खाने के गुणों के मामले में एक उत्कृष्ट किस्म है।
चूंकि अधिकांश लोग इस किस्म के फलों की उच्च गुणवत्ता से अनजान थे, इसलिए नई किस्म होने के कारण बाज़ार में कम मात्रा में उपलब्ध थे। कई दशकों तक केवल कुछ बागवान या आम के कुछ विशेष प्रेमी इस विशेष किस्म का मजा लेते रहे। यह बाज़ार में देर से आने वाली किस्म है और देश के अधिकांश आम उगाने वाले क्षेत्रों में अधिक उपज देने वाली साबित हुई है।
यह कर्नाटक और तमिलनाडु में व्यवसायिक तौर पर उगाई जा रही है क्योंकि बेंगलुरु के बाजार में फल बहुत अच्छी कीमत पर बेचे जाते हैं। संस्थान के निदेशक शैलेन्द्र राजन के अनुसार दक्षिण भारतीय आम नीलम मल्लिका की माता है और पिता दशहरी। फल का आकार माता-पिता दोनों से ही काफी बड़ा होता है, कुछ फलों का वजन 700 ग्राम से अधिक हो जाता है।
पहले फल तोड़ने पर पकने के बाद भी फलों में खटास रहती है लेकिन जब उन्हें सही अवस्था में तोड़ा जाए तो मिठास और खटास का अद्भुत संतुलन मिलता है। विशेष स्वाद के अतिरिक्त फल का गूदा सख्त होता है इसलिए स्वाद और बेहतरीन हो जाता है|

फल नारंगी पीले रंग का होता है, जिसमें आकर्षक गहरे नारंगी रंग का गूदा और एक बहुत पतली गुठली होती है। फल में भरपूर गूदा होने के कारण ग्राहक को पैसे की अच्छी कीमत मिल जाती है। गोमती नगर के एक वेंडर के मुताबिक, मल्लिका के बारे में जानने वाले लोग इस विशेष किस्म के फल की मांग करते हैं। मल्लिका के फल का मजा लेने के बाद लोग इस किस्म के दीवाने हो जाते हैं।

किस्म प्रेमी एक किलो के लिए सौ रुपये तक देने को तैयार हैं, जबकि विक्रेता को देश के अन्य शहरों में इस किस्म के बेचने के लिए संघर्ष करना पड़ता है। कई जगह विक्रेता चौसा और कुछ अन्य किस्मों की आड़ में मल्लिका को बेचकर लोगों को गुमराह करते हैं। आम की एक किस्म को लोकप्रिय होने में कई दशक लग जाते हैं।
उदाहरण के लिए, मल्लिका के मामले में, लोगों को इसकी उत्कृष्ट फल गुणवत्ता के बारे में जानने में लगभग 40 साल लग गए। मल्लिका के पौधों की विभिन्न आम उत्पादक क्षेत्रों में मांग बढ़ रही है और तो और जापानियों को भी यह किस्म बहुत पसंद आ रही है।
एक अच्छी तरह से पका हुआ मल्लिका फल अल्फांसो, दशहरी और चौसा जैसी शीर्ष किस्मों में से किसी को भी मात दे सकता है। हालांकि, पेड़ से फल को उचित समय पर चुनना महत्वपूर्ण है; अन्यथा, किस्म के असली स्वाद का आनंद नहीं लिया जा सकता है।विभिन्न किस्मों की मांग बढ़ने से शहर में आम विक्रेताओं की बेचने की शैली भी बदल रही हैं। वे चौसा, लखनऊ सफेदा के अतिरिक्त कई अन्य किस्मों को एक ही समय में बेचते हैं। कुछ साल पहले, आम के मौसम के अंत मे केवल चौसा और लखनऊ सफेदा के ही फल मिलते थे।

17 विधेयकों को पेश करने के लिए सूचीबद्ध किया

अकांशु उपाध्याय             
नई दिल्ली। सरकार सोमवार से शुरू हो रहे संसद के मानसून सत्र के दौरान कई विधेयकों को पारित कराने के एजेंडे के साथ सदन में जाएगी। वहीं, विपक्ष भी कोविड-19 की दूसरी लहर से निपटने और ईंधन की कीमतों में वृद्धि के मुद्दे पर सरकार को घेरने की तैयारी कर रहा है। सरकार ने इस सत्र के दौरान 17 विधेयकों को पेश करने के लिए सूचीबद्ध किया है। 
इनमें से तीन विधेयक हाल में जारी अध्यादेशों के स्थान पर लाए जाएंगे क्योंकि नियम है कि संसद सत्र शुरू होने के बाद अध्यादेश के स्थान पर विधेयक को 42 दिनों या छह सप्ताह में पारित करना होता है, अन्यथा वे निष्प्रभावी हो जाते हैं। इनमें से एक अध्यादेश 30 जून को जारी किया गया था जिसके जरिये रक्षा सेवाओं में किसी के विरोध प्रदर्शन या हड़ताल में शामिल होने पर रोक लगाई गई है।
आवश्यक रक्षा सेवा अध्यादेश 2021 आयुध फैक्टरी बोर्ड (ओएफबी) के प्रमुख संघों द्वारा जुलाई के अंत में अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाने की चेतावनी देने की पृष्ठभूमि में लाया गया है। संबंधित संघ ओएफबी के निगमीकरण के सरकार के फैसले का विरोध कर रहे हैं। लोकसभा द्वारा 12 जुलाई को जारी बुलेटिन के मुताबिक अध्यादेश का स्थान लेने के लिए आवश्यक रक्षा सेवा विधेयक 2021 को सूचीबद्ध किया गया है।वहीं, राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र और इससे सटे इलाकों में वायु गुणवत्ता प्रबंधन के लिए आयोग-2021 अन्य विधेयक है। 
जो अध्यादेश की जगह लाया जाएगा। वहीं, विपक्ष कोविड-19 महामारी के दौरान स्वास्थ्य सेवाओं की कथित कमी और राज्यों को टीके के वितरण के मुद्दे पर सरकार को घेरने की तैयारी कर रहा है।
विपक्ष पेट्रोल, डीजल और रसोई गैस की कीमतों में वृद्धि को लेकर भी सरकार से जवाब मांगेगा। संसद का मानसून सत्र 13 अगस्त तक चलेगा। बुलेटिन में सूचीबद्ध वित्तीय विषयों में वर्ष 2021-22 के लिए अनपूरक मांग और अनुदान पर चर्चा शामिल है। उपराष्ट्रपति और राज्यसभा के सभापति एम वेंकैया नायडू ने शनिवार को संसद सदस्यों से अपील की कि महामारी के बीच वे लोगों के साथ खड़े हों और सदन में जनता से जुड़े मुद्दों पर चर्चा कर।


बाढ़ में मरने वाले लोगों की संख्या बढ़कर 156 हुईं

बर्लिन। जर्मनी में मूसलाधार बारिश के कारण आई बाढ़ में मरने वाले लोगों की संख्या बढ़कर 156 हो गई है। स्थानिय अखबार ने अपनी रिपोर्ट में यह जानकारी दी है। अखबार ने कोब्लेंज़ पुलिस विभाग के हवाले से बताया कि बाढ़ से 12 और लोगों की मौत हुई है। रविवार सुबह तक दक्षिण-पश्चिमी जर्मन के राइनलैंड-पैलेटिनेट प्रांत में 110 लोगों की मौत हुई है। अखबार की रिपोर्ट के अनुसार नॉर्थ राइन-वेस्टफेलिया प्रांत में शनिवार शाम तक मरने वालों की संख्या 45 थी, जबकि बेर्चटेस्गेडेन के बवेरियन क्षेत्र में कम से कम एक व्यक्ति की मौत हुई है।
कोब्लेंज़ पुलिस विभाग की तरफ से रविवार को दी गई जानकारी के अनुसार, अकेले अहरवीलर जिले में 110 से अधिक लोगों की मौत हुई हैं और 670 अन्य घायल हुए हैं। भारी बारिश और बाढ़ के कारण शनिवार की रात जर्मनी के बवेरिया के बेर्चटेस्गडेनर लैंड जिले में आपातकाल घोषित किया गया।
जर्मनी के सैक्सन स्विटजरलैंड में भी शनिवार देर रात बाढ़ की सूचना मिली और इस क्षेत्र में बाढ़ और भूस्खलन के बीच ड्रेसडेन-प्राग मार्ग पर रविवार दोपहर तक रेल सेवा को रोक दिया गया है।

डेढ़ वर्षों में हमने परिस्थितियों का सामना किया: पीएम

अकांशु उपाध्याय             
नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राजस्थान की कोटा निवासी और भारतीय सेना से बतौर मेजर सेवानिवृत्त हुईं प्रमिला सिंह को उनके दयाभाव और सेवाकार्य के लिए सराहना की है। दरअसल कोरोना में लॉकडाउन के दौरान जहां लोग अपने-अपने घरों में राशन पानी की व्यवस्था में जुटे थे, उसी समय मेजर प्रमिला सिंह ने अपने पिता श्यामवीर सिंह के साथ मिलकर बेसहारा जानवरों की सुध ली, उनका दु:ख-दर्द समझा और उनकी मदद के लिए आगे आईं।
मेजर प्रमिला और उनके पिताजी ने अपनी जमा पूंजी से सड़कों पर आवारा घूम रहे जानवरों के चारे और उपचार की व्यवस्था की। प्रधानमंत्री ने पत्र भेजकर मेजर प्रमिला की तारीफ करते हुए उनके प्रयास को समाज के लिए प्रेरणास्त्रोत बताया है। प्रधानमंत्री ने पत्र में लिखा है, ‘पिछले लगभग डेढ़ वर्षों में हमने अभूतपूर्व परिस्थितियों का सामना मजबूती से किया है। यह एक ऐसा ऐतिहासिक कालखंड है जिसे लोग जीवन भर नहीं भूल सकेंगे।
यह न केवल इंसानों के लिए बल्कि मानव के सान्निध्य में रहने वाले अनेक जीवों के लिए भी कठिन दौर है। ऐसे में आपका बेसहारा जानवरों के दु:ख-दर्द व जरूरतों के प्रति संवेदनशील होना व उनके कल्याण के लिए व्यक्तिगत स्तर पर पूरे सामर्थ्य से कार्य करना सराहनीय हैं।’
साथ ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि इस मुश्किल समय में कई ऐसी मिसालें देखने को मिली हैं जिन्होंने हमें मानवता पर गर्व करने का अवसर दिया है।  मोदी ने उम्मीद जताई कि मेजर प्रमिला और उनके पिताजी इसी तरह अपनी पहल से समाज में जागरुकता फैलाते हुए अपने कार्यों से लोगों को निरंतर प्रेरित करते रहेंगे। इससे पहले मेजर प्रमिला सिंह ने प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर बताया था कि जानवरों की देखभाल करने का जो काम उन्होंने लॉकडाउन के समय शुरू किया था वह आज तक जारी है। उन्होंने पत्र में असहाय जानवरों की पीड़ा व्यक्त करते हुए समाज के ज्यादा से ज्यादा लोगों को इनकी मदद के लिए आगे आने की अपील की है।

विदेश: कीमती धातुओं की तेजी से चमक बढ़ीं, रिकॉर्ड

कविता गर्ग                         
मुंबई। विदेशों में कीमती धातुओं में तेजी से पिछले सप्ताह घरेलू स्तर पर भी इनकी चमक बढ़ गई। एमसीएक्स वायदा बाजार में सोने की कीमत सप्ताह के दौरान 377 रुपये चढ़कर सप्ताहांत पर 48,192 रुपये प्रति दस ग्राम पर पहुँच गई।
सोना मिनी भी 360 रुपये की साप्ताहिक मजबूती के साथ अंतिम कारोबारी दिवस पर 48,178 रुपये प्रति दस ग्राम पर बंद हुआ। कारोबारियों का कहना है कि वैवाहिक माँग अभी मजबूत बनी हुई है। अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भी सोने में में तेजी रही है। इससे सोना महँगा हो गया। वैश्वि​क स्तर पर बीते सप्ताह सोना हाजिर 21 डॉलर चमककर 1,822.24 डॉलर प्रति औंस पर पहुँच गया। अगस्त का अमेरिकी सोना वायदा भी 20.20 डॉलर की बढ़त के साथ शुक्रवार को 1,831.40 डॉलर प्रति औंस पर बंद हुआ।
घरेलू स्तर पर चाँदी समीक्षाधीन सप्ताह के दौरान 975 रुपये चढकर सप्ताहांत पर 69211 रुपये प्रति किलोग्राम बिकी। चाँदी मिनी की कीमत 999 रुपये बढ़कर 69,400 रुपये प्रति किलोग्राम रही। अंतरराष्ट्रीय बाजार में चांदी हाजिर 0.02 डॉलर की साप्ताहिक बढ़त के साथ 26.15 डॉलर प्रति औंस पर पहुँच गई।

चीन में मंकी बी वायरस से मौत का पहला मामला

बीजिंग। चीन की वुहान प्रयोगशाला के कुछ वैज्ञानिकों की जब रहस्यमयी कोरोना वायरस से मौत हुई थी तो चीन ने विश्व संगठनों से इसे काफी समय तक दबाए रखा था और आज वही वायरस पूरे विश्व को लील रहा है। लेकिन अब एक और पशु चिकित्सक की रहस्यमयी मंकी बी वायरस से माैत के मामले को दाे माह तक दबा कर रखा गया है।
चीन में मंकी बी वायरस संक्रमण से मौत का यह पहला मामला है। चीनी समाचार पत्र ‘द ग्लोबल टाइम्स’ के अनुसार चीनी संस्थान “प्लेटफार्म ऑफ चाइनीज सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन” के जर्नल ने शनिवार को अपनी रिपोर्ट में कहा कि 53 वर्षीय यह पशु चिकित्सक बंदरों पर शोध कार्य कर रहा था और मार्च में उसने दो बंदरों के शवों का परीक्षण किया था।
इसके एक माह बाद उसे जी मिचलाने और उल्टियों की शिकायत हुई और उसने कईं अस्पतालों में अपना उपचार कराया लेकिन 27 मई को आखिरकार उसकी मौत हो गई थी। शोधकर्ताओं ने उसकी रीढ़ के हड्डी से निकाले गए तरल पदार्थ में मंकी बी वायरस की पुष्टि की है। उसके नजदीकी संपर्क में आए लोगों में हालांकि अभी तक कोई लक्षण नहीं मिले हैं। इस विषाणु को बंदरों की मकॉक जीनस से 1932 में आइसोलेट किया गया था और यह अल्फाहरपीज वायरस के नाम से जाना गया था।
यह वायरस प्रत्यक्ष संपर्क और शारीरिक द्रव्यों से फैल सकता है और इसकी मृत्यु दर 70 से 80 प्रतिशत है। इस जर्नल में कहा गया है कि मंकी बी वायरस लोगों के लिए एक गभीर खतरा हो सकता है और बंदरों में होने वाले किसी भी तरह के अप्रत्याशित बदलावों, उनके व्यवहार में परिवर्तन पर निगरानी जरूरी है।
गौरतलब है कि अमेरिका के टेक्सास शहर में 18 वर्षों के बाद मंकी बी वायरस का पहला मामला सामने आया है और उसने हाल ही में नाइजीरिया से अमेरिका की यात्रा की है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक वर्तमान में इस संक्रमण की कोई दवा नहीं है और जो दवाएं चेचक में दी जाती हैं। वहीं इसके खिलाफ सुरक्षा प्रदान कर सकती हैं।
संक्रमण के बाद सात से 13 दिनों में इसके लक्षण उभर कर सामने आते हैं और इनमें बुखार, तेज सिर दर्द, मांसपेशियों में दर्द तथा अधिक कमजोरी प्रमुख हैं। इसमें शरीर की लसीका ग्रंथियों (लिम्फ नोडृस) में सूजन आम लक्षण है।

पूर्व गृह मंत्री अनिल के जिले में 2 स्थानों पर छापे मारे

कविता गर्ग                  
नागपुर। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने धन शोधन मामले की जांच के सिलसिले में रविवार को महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख के नागपुर जिले में दो निवास स्थानों पर छापे मारे। औएक पुलिस अधिकारी ने बताया कि ईडी के दो अलग-अलग दलों ने यहां से करीब 60 किलोमीटर दूर स्थित कटोल शहर में देशमुख के आवास और कटोल के समीप वाडविहीरा गांव में उनके पैतृक घर पर छापे मारे। उन्होंने बताया कि सुबह करीब छह बजे छापे मारे गए।
अधिकारी ने बताया कि देशमुख के कटोल परिसर पर तलाशी अभी चल रही है जबकि वाडविहीरा में तलाशी दोपहर 12 बजे के आसपास पूरी हो गयी। ईडी कथित तौर पर करोड़ों रुपये के घूस एवं वसूली गिरोह मामले से जुड़े धन शोधन के मामले की जांच कर रही है। इस मामले के चलते देशमुख को इस साल अप्रैल में गृह मंत्री के पद से इस्तीफा देना पड़ा था।
केंद्रीय एजेंसी ने हाल ही में देशमुख के निजी सचिव संजीव पलांडे (51) और निजी सहायक कुंदन शिंदे (45) को गिरफ्तार किया था। इससे पहले उसने इन दोनों और राकांपा नेता के मुंबई तथा नागपुर में स्थित आवासों पर छापे मारे थे। ईडी ने मामले में पूछताछ के लिए देशमुख को सम्मन भेजे थे लेकिन वह पेश नहीं हुए।
ईडी ने बंबई उच्च न्यायालय के आदेश पर दर्ज किए गए मामले के बाद केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) की प्रारंभिक जांच के बाद देशमुख तथा अन्य के खिलाफ मामला दर्ज किया। उच्च न्यायालय ने सीबीआई को मुंबई के पूर्व पुलिस आयुक्त परमबीर सिंह द्वारा देशमुख के खिलाफ लगाए रिश्वत के आरोपों की जांच करने के लिए कहा था। देशमुख ने आरोपों से इनकार किया है।

मणिपुर में अगले दस दिनों तक संपूर्ण लॉकडाउन लागू

इम्फाल। मणिपुर में रविवार सुबह (18 जुलाई) से अगले दस दिनों तक संपूर्ण लॉकडाउन लागू होने जा रहा है। राज्य सरकार ने इस संबंध में पहले ही अधिसूचना जारी कर पुलिस और सामान्य प्रशासन को सतर्क रहने के निर्देश दिए हैं।
राज्य में कोरोना के बढ़ते डेल्टा वेरिएंट को देखते हुए राज्य सरकार ने यह फैसला लिया है। इस संदर्भ में राज्य के स्वास्थ्य अधिकारी ने कहा कि कोरोना संक्रमण की चेन को तोड़ने के लिए सख्त कार्रवाई बहुत जरूरी थी। उन्होंने कहा कि प्रदेश की जनता हालांकि, सरकार के सभी फैसलों का स्वागत करते हुए हमेशा सहयोग करती रही है, इस बार भी सरकार का पूरी तरह से सहयोग करेगी।
इस बीच मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह ने अपने आधिकारिक ट्वीटर हैंडल के जरिए कहा है कि 18 से 28 जुलाई तक जारी कर्फ्यू और लॉकडाउन में आपातकालीन सेवाओं को छोड़कर सभी दुकानें, स्कूल कॉलेज, विश्वविद्यालय, पार्लर, मॉल, रेस्तरां आदि बंद कर दिए जाएंगे। इसके अलावा, केवल टीका लेने वाले और परीक्षण के लिए जाने वालों को दस दिन के लॉकडाउन के दौरान बाहर निकलने की अनुमति दी जाएगी।
उल्लेखनीय है कि मणिपुर में पिछले 24 घंटे में कोरोना के 1,128 नए मरीज चिह्नित किए गए हैं। पिछले कुछ दिनों से लगातार 1,000 से ज्यादा रोजाना संक्रमण के मामले सामने आ रहे हैं। नतीजा यह है कि राज्य में कोरोना के मामलों की संख्या अब तक बढ़कर 82,688 हो गई है। इस बीच पिछले 24 घंटे में 643 लोग स्वस्थ हुए हैं। इस तरह स्वस्थ कुल लोगों की संख्या 72,305 हो गयी है। इसके अलावा प्रदेश के विभिन्न अस्पतालों में 9,033 संक्रमित लोगों का इलाज किया जा रहा है। पिछले 24 घंटे में 10 लोगों के साथ प्रदेश में कुल 1,350 लोगों की मौत हो चुकी है।

ईद उल अज़ाह: प्रतिबंधित जानवरों की कुर्बानी ना करें

अकांशु उपाध्याय               
नई दिल्ली। जमीयत उलेमा-ए-हिंद के राष्ट्रीय अध्यक्ष मौलाना अरशद मदनी ने भारतीय मुसलमानों से आह्वान किया है कि ईद-उल-अजहा का त्योहार सादगी के साथ मनाएं और प्रतिबंधित जानवरों की कुर्बानी बिल्कुल भी नहीं नहीं करें। उनका कहना है कि कोरोना महामारी अभी समाप्त नहीं हुई है। इसलिए मस्जिदों या ईदगाहों में स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से जारी की गई गाइडलाइन को सामने रखते हुए ईदु-उल-अज़हा की नमाज़ अदा करनी चाहिए। 
ज्यादा बेहतर है कि सूरज निकलने के बीस मिनट के बाद संक्षिप्त रूप से नमाज़ और खुतबा अदा करके कुर्बानी कर ली जाए और गंदगी को इस तरह दफन किया जाए कि उससे बदबू नहीं फैलने पाए।
मौलाना अरशद मदनी ने कहा है कि देश, विशेषकर उत्तर प्रदेश और कुछ अन्य राज्यों की परिस्थितियों को देखते हुए मुसलमानों को सलाह दी जाती है कि प्रतिबंधित जानवरों की कुर्बानी से बचें। चूंकि मज़हब में इसके बदले में काले जानवरों की कुरबानी जायज़ है, इसलिए किसी भी फ़ितने से बचने के लिए इस पर संतोष करना उचित है। अगर किसी जगह उपद्रवी काले जानवरों की कुर्बानी से भी रोकते हैं तो कुछ समझदार और प्रभावशाली लोगों द्वारा प्रशासन को विश्वास में लेकर कुरबानी की जाए। यदि फिर भी ख़ुदा न करे कि मज़हबी वाजिबात को अदा करने का रास्ता न निकले तो जिस करीबी आबादी में कोई दिक़्क़़त न हो वहां पर कुर्बानी करा दी जाए लेकिन जिस जगह कुर्बानी होती आई है और फिलहाल दिक़्क़त है तो वहां कम से कम बकरे की कुर्बानी अवश्य की जाए और प्रशासन के कार्यालय में दर्ज भी करा दिया जाए ताकि भविष्य में कोई दिक़्क़त नहीं होने पाए। 
वर्तमान परिस्थितियों से मुसलमानों को निराश नहीं होना चाहिए और परिस्थितियों का मुक़ाबला शांति, प्रेम और धैर्य से हर मोर्चे पर करना चाहिए। कोरोना महामारी से सुरक्षा के लिए मुसलमानों को अधिक से अधिक अल्लाह से दुआ करनी चाहिए और तौबा व इस्तिगफ़ार (अल्लाह से अपने गुनाहों के क्षमा मांगना) अधिक से अधिक किया जाए।

कालाबाजारी के मामले में 1 आरोपी को अरेस्ट किया

विजय भाटी   
गौतमबुद्ध नगर। कोविड-19 के इलाज में इस्तेमाल होने वाले इंजेक्शन की कालाबाजारी के मामले में वांछित एक आरोपी को पुलिस ने शनिवार को गिरफ्तार किया। उस पर 10 हजार रुपये का इनाम था। थाना सेक्टर-20 के प्रभारी निरीक्षक मुनीष प्रताप सिंह चौहान ने बताया कि तीन मई को थाना सेक्टर-20 पुलिस ने कोविड-19 के इलाज में इस्तेमाल होने वाले इंजेक्शन की कालाबाजारी आरोप में रवि कुमार तथा मोहम्मद जुनैद को सेक्टर-29 से गिरफ्तार किया था। उन्होंने बताया कि इनका एक साथी आकाश दीप मौके से भाग गया था। उन्होंने बताया कि आज थाना पुलिस ने उसको गिरफ्तार कर लिया। उसकी गिरफ्तारी पर 10 हजार रुपए का इनाम घोषित था।

हमारा मकसद सिर्फ भाजपा को हराना है: प्रियंका

हरिओम उपाध्याय              
लखनऊ। कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने आगामी चुनाव में गठबंधन किए जाने की बात पर कहा कि हमारा मकसद सिर्फ और सिर्फ भाजपा को हराना है। गठबंधन की बाबत परिस्थितियों के अनुसार हम फैसला लेंगे। लोग संगठन के साथ तेजी से जुड रहे है। जिसका श्रेय कार्यकर्ताओं को जाता है।
रविवार को राजधानी में पत्रकारों से बातचीत करते हुए कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव एवं उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गांधी वाड्रा ने कहा है कि हम खुले दिल के इंसान हैं। 
परंतु अभी तक का अनुभव यही रहा है कि हमें गठबंधन करके नुकसान झेलना पड़ता है। गठबंधन की बाबत अभी कुछ कहना जल्दबाजी होगा। उन्होंने कहा कि हम ऐसा कुछ भी नहीं करेंगे, जिससे हमारे संगठन और पार्टी के हितों को चोट पहुंचे। गठबंधन की बाबत आगे की परिस्थितियों के हिसाब से हम अपनी रणनीति तय करेंगे। उन्होंने बताया कि पिछले डेढ़ साल के भीतर कांग्रेस के साथ बड़ी संख्या में लोग जुडे हैं। जिसके चलते संगठन मजबूत हुआ है। जिस संगठन की संरचना हमने की है, उसकी भाग्य रेखा कार्यकर्ताओं के हाथों में है। यदि एकजुट होकर जी जान के साथ अगले 7 महीने तक हमने काम कर लिया तो विधानसभा चुनाव में अच्छे नतीजे पार्टी को देखने को मिलेंगे। उन्होंने कहा कि वर्ष 2019 के बाद जहां भी संघर्ष हुए हैं या आमजन परेशानी में पड़ा है, वहां पर कांग्रेस कार्यकर्ता सबसे पहले पीड़ितों के पक्ष में खड़ा हुआ मिला है। कांग्रेस के नेताओं व कार्यकर्ताओं ने कोरोना वायरस की दूसरी लहर के दौरान जरूरतमंदों तक सबसे पहले व सबसे ज्यादा मदद पहुंचाई है। 
कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने कार्यकर्ताओं का आह्वान किया है कि वह जनता के मुद्दों को लेकर संघर्ष करें और उनकी भावनाओं से जुड़े। नए लोगों को संगठन से जोड़े, परंतु पुराने और वरिष्ठ लोगों को साथ लेकर चलें। तभी संगठन को मजबूती प्राप्त होगी। उत्तर प्रदेश में पार्टी संगठन में आप सब नई ऊर्जा लेकर आए हैं। आपके कारण ही आज कांग्रेस चर्चा के बीच राजनीति के मैदान में डटकर खड़ी हुई है।

बारिश का क़हर, मलबे में दबकर 19 लोगों की मौंत

कविता गर्ग 
मुंबई। बारिश ने अपना कहर बरपाते हुए लोगों का जीवन अस्त-व्यस्त कर दिया है। बारिश की मार से बेहाल हुई दीवारे भरभराकर नीचे आ गिरी। दो स्थानों पर गिरी दीवारों के मलबे के नीचे दबकर 19 लोगों की मौत हो गई है। दो स्थानों पर हुई दीवार गिरने की घटना के बाद राहत और बचाव कार्य शुरू कर दिये गए हैं। अभी कम से कम 7 और लोगों के दबे होने की आशंका जताई जा रही है।
रविवार को देश की आर्थिक राजधानी मुंबई में बारिश ने जमकर अपना कहर बरपाया है। मायानगरी के नाम से विख्यात मुंबई में बारिश के कहर के आगे बेहाल होकर स्थानों पर दीवार भरभराकर नीचे आ गिरी। भारी बारिश से बेहाल मुंबई के चेंबूर भारत नगर इलाके में लैंड स्लाइड की वजह से कुछ झोपड़ियों पर समीप में खड़ी दीवार गिर गई। जिसमें 14 लोगों की मौत हो गई है। विक्रोली इलाके में हुई एक अन्य दूसरी घटना में आवासीय मकान गिरने से पांच लोगों की मौत हो गई है। फिलहाल दोनों स्थानों पर राहत और बचाव कार्य जारी है। राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल एनडीआरएफ का कहना है कि भूस्खलन के कारण चेंबूर के भारत नगर इलाके में कई झोपडियों के ऊपर दीवार गिरने से 14 लोगों की जान चली गई है। माना जा रहा है कि मलबे के अंदर अभी और लोग फंसे हो सकते हैं। जिन्हे बचाने का काम जारी है। 
इसके अलावा एनडीआरएफ ने कहा है कि मुंबई के विक्रोली इलाके में रविवार की तड़के एक आवासीय इमारत की दीवार गिर गई है, जिसमें 5 लोगों की मौत हो गई है। चेंबूर की घटना पर एनडीआरएफ के इंस्पेक्टर राहुल रघुवंशी ने कहा है कि दीवार के मलबे के भीतर से 4 शव बरामद किए हैं। एनडीआरएफ कर्मियों के आने से पहले ही स्थानीय लोगों ने 10 लोगों के शव निकाल लिए थे। अभी मलबे में कम से कम 7 और अन्य लोगों के फंसे होने की आशंका है। उधर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मुंबई के चेंबुर और विक्रोली इलाके में हुई दीवार गिरने की घटना में लोगों की मौत पर गहरा दुख जताया है। दीवार गिरने से जान गाने वालों के परिजनों को दो-दो लाख रूपये और घायलों को 50-50 हजार रूपये दिये जाएंगे। इसकी जानकारी प्रधानमंत्री कार्यालय की ओर से भी गई है।

तालिबान निति को लेकर सरकार पर निशाना साधा

मनोज सिंह ठाकुर                   
भोपाल। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने तालिबान के मामले में आज फिर केंद्र की नरेंद्र माेदी सरकार को निशाने पर लिया है।
राज्यसभा सांसद पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने ट्वीट करते हुए लिखा है 'आप इस खबर पर चुप क्यों हैं? क्या साहब से संदेश नहीं आया? भाजपा मोदी शाह सरकार तालिबान के साथ चर्चा कर रही है। इमरान खान साहब भी तालिबान पर मेहरबान हैं। लगता है भाजपामोदीशाह व इमरान खान अफगानिस्तान की चुनी सरकार को मदद ना कर, तालिबान का रास्ता साफ कर रहे हैं।
कुछ समय पहले भी पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने तालिबान के मुद्दे को उठाते हुए ट्वीट किए थे।

पेट्रोल-डीजल की कीमतों में कोई बदलाव नहीं किया

अकांशु उपाध्याय             
नई दिल्ली। देश में रविवार को पेट्रोल और डीजल की कीमतों में कोई बदलाव नहीं किया गया और इनकी कीमतें यथावत रहीं।
शनिवार को घरेलू स्तर पर पेट्रोल की कीमतों में 30 पैसे प्रति लीटर की वृद्धि की गई जिससे राजधानी दिल्ली सहित देश के आधिकांश हिस्सो में इसकी कीमत नए स्तर पर पहुंच गईं थी जबकि डीजल की कीमतों में कोई बदलाव नहीं किया गया था।
गुरुवार को पेट्रोल 35 पैसे प्रति लीटर की वृद्धि के साथ नए रिकार्ड स्तर पर पहुंच गया था और डीजल 15 पैसे प्रति लीटर महंगा हो गया था।
दिल्ली में शनिवार की बढ़ोतरी के बाद पेट्रोल की कीमत 101.84 रुपये और मुंबई में 107.83 रुपये प्रति लीटर के पर पहुँच गई थी।
अग्रणी तेल विपणन कंपनी इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन के अनुसार रविवार को पेट्रोल और डीजल की कीमतों में कोई बदलाव नहीं किया गया है।
पेट्रोल-डीजल के मूल्यों की रोजाना समीक्षा होती है और उसके आधार पर हर दिन सुबह छह बजे से नयी कीमतें लागू की जाती हैं।
देश के चार महानगरों में आज पेट्रोल और डीजल के दाम इस प्रकार रहे।

12वीं कक्षा के छात्रों के लिए 26 से शुरू होंगी कक्षाएं

भुवनेश्वर। सरकारी और निजी स्कूलों में 10वीं और 12वीं कक्षा के छात्रों के लिए ऑफलाइन कक्षाएं 26 जुलाई से शुरू होंगी।
स्कूल एवं जन शिक्षा सचिव सत्यब्रत साहू ने शनिवार को यह घोषणा की और कहा कि स्कूल बिना लंच ब्रेक के सुबह 10 बजे से दोपहर 1.30 बजे तक खुले रहेंगे। उन्होंने हालांकि यह भी कहा कि जिला कलेक्टर अपने इलाके में कोविड की स्थिति को देखते हुए स्कूल खोलने पर निर्णय लेंगे। 
वहीं कक्षाओं में शामिल होना छात्रों के विवेक पर छोड़ दिया गया है।साहू ने कहा कि कक्षाओं को फिर से खोलने से पहले स्कूलों को साफ कर दिये जायेगा तथा शिक्षकों को टीका लगाया जायेगा। मास्क पहनना अनिवार्य रहेगा और सभी छात्रों की थर्मल स्क्रीनिंग करने के निर्देश जारी किये गये हैं। राज्य सरकार अगले 16 अगस्त से नौवीं और 15 सितम्बर से 11वीं कक्षा के छात्रों के लिए ऑफ़लाइन कक्षाएं शुरू करने पर भी विचार कर रही है। जबकि अन्य कक्षाओं के छात्रों के लिए ऑनलाइन कक्षाएं पहले की तरह जारी रहेगी।
एक अन्य फैसले में सरकार ने राज्य में वार्षिक हाई स्कूल प्रमाण पत्र परीक्षा की ऑफलाइन परीक्षा 30 जुलाई से पांच अगस्त तक आयोजित करने का निर्णय लिया है। इसके लिए जिला एवं प्रखंड मुख्यालयों को परीक्षा केंद्र बनाया जायेगा। परीक्षा केंद्रों में प्रवेश करने से पहले छात्रों की थर्मल स्क्रीनिंग की जाएगी। किसी भी छात्र को बिना मास्क पहने परीक्षा केंद्र में प्रवेश की अनुमति नहीं होगी। 
परीक्षा कोविड प्रोटोकॉल के कड़ाई से लागू होने के साथ आयोजित की जाएगी और परीक्षा से पहले परीक्षा के प्रभारी सभी शिक्षकों के कोविड परीक्षण किये जायेंगे।
ओडिशा सरकार ने कोविड महामारी के कारण माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की वार्षिक हाई स्कूल सर्टिफिकेट परीक्षा इस साल रद्द कर दी है। बोर्ड द्वारा वैकल्पिक मूल्यांकन प्रणाली के तहत गत जून को परिणाम घोषित किया गया था। परीक्षा में सम्मिलत कुल 6.30 लाख छात्रों में से रिकॉर्ड 6.10 लाख छात्रों ने परीक्षा पास की है।

'इस्मत चुग़ताई’ कार्यक्रम आयोजित, जन्मशताब्दी

हरिओम उपाध्याय                
लखनऊ। उत्तर प्रदेश में तारीख़ 14 अगस्त 2015 को मशहूर उर्दू लेखिका इस्मत चुग़ताई के जन्म शताब्दी समारोह के सिलसिले में इप्टा, लखनऊ ने ‘महत्व इस्मत चुग़ताई’ कार्यक्रम हिंदी संस्थान में आयोजित किया। अध्यक्षता जेएनयू के पूर्व प्रोफ़ेसर और उर्दू इल्म-ओ-अदब में बहैसियत समालोचक दख़ल रखने वाले शारिब रुदौलवी ने की। अलावा उनके मंच पर आबिद सुहैल, रतन सिंह, सबीहा अनवर, वीरेंद्र यादव और शबनम रिज़वी की मौज़ूदगी थी।
इप्टा के राष्ट्रीय सचिव राकेश ने संचालन करते हुए इस्मत चुग़ताई की ज़िंदगी पर रौशनी डालते हुए बताया इस्मत आपा के अफ़साने ‘लिहाफ़’ ने अदबी दुनिया में ज़बरदस्त हलचल पैदा की।
ये अफ़साना औरत की आज़ादी की बात तो करता ही है, पूरे समाज का रचनात्मक आत्मलोचन भी करता है। उन पर उनके भाई अज़ीम बेग चुग़ताई का और उनके लेखन का ख़ासा असर था। लेकिन इस्मत ने अज़ीम बेग को पार करके उर्दू अदब में खुद को स्थापित किया। ख़ुद अज़ीम बेग को भी इसका डर था।
इस्मत कहती थीं कि क़लम मेरे हाथ में जब आ जाती है तो मैं लिखती ही जाती हूं। वो 1947 में मुल्क़ की तक़सीम से पैदा हुए फ़सादात से गुज़रीं। तक़सीम मुल्क़ की ही नहीं हुई बल्कि अवाम के दिलों की भी हुई। वो कृष्ण चंदर, राजिंदर सिंह बेदी और सआदत अली मंटो की कड़ी हैं। प्रोग्रेसिव लेखन की अगुवा रहीं। उनका लेखन ऑटोबायोग्राफ़िकल रहा है। उनके अफ़साने बताते हैं वो किसी से भी बात कर लेती हैं। चाहे वो धोबी हो या मोची या सफ़ाई वाला या कामवाली बाई या अस्तबल का साइं।
एक बार मंटो से किसी ने पूछा था कि अगर मंटो की शादी इस्मत से हो गयी होती तो? मंटो ने जवाब दिया था कि निक़ाहनामे पर दस्तख़त करते-करते उनमें इतनी लानत-मलानत होती कि यह वहीं टूट जाती।
करामात हुसैन डिग्री कॉलेज की पूर्व प्रिसिपल और उर्दू की वरिष्ठ लेखिका सबीहा अनवर ने इस्मत आपा के साथ वक़्त वक़्त पर बिताये दिनों को भावुक अंदाज़ से याद किया। इस्मत आपा की राय बेहद बेबाक होती थी।उन्होंने दिखावटी बात नहीं की। प्रैक्टिकल, मुंहफट और आज़ाद ख़्याल. उन्हें दुनिया में होने वाली हर घटना की जानकारी लेने की फ़िक्र रहती।
उस पर अपना नज़रिया ज़ाहिर करती,वो जब कभी लखनऊ आतीं तो मेरे घर ज़रूर आती, क़याम भी फ़रमाती,जब भी मिलीं बड़े ख़लूस से मिलीं। उन्हें मिलने, देखने और सुनने वालों का सिलसिला सुबह से शाम चला किया। भीड़ लगी रहती,वो बेबाक बोलने से बाज़ न आयीं कभी,उनकी शैली व्यंग्यात्मक रही।
एक बार बोलीं कि मेरी मां को उसके दसवें बच्चे ने बिलकुल तंग नहीं किया क्योंकि वो पैदा होते ही मर गया। कोई न कोई कंट्रोवर्सी वाला बयान दे देतीं और फंस जातीं। अख़बारनवीसों को तो इसी का इंतज़ार रहता था।
एक दिन कह बैठीं कि मरने के बाद दफ़न करने के बजाये मुझे जलाया जाए। जब मैंने उनसे कहा कि आप थोड़ा सोचा-समझ कर बयान दिया करें तो उन्होंने कहा, मैं तुम्हारे जैसी समझदार नहीं हूं। जो दिल में है वही कहूँगी। मैं सच कहने से डरती नहीं। बहुत ज़िद्दी थीं वो। बोलने पर आतीं तो बेलगाम हो जातीं। यादों का कभी ख़त्म न होने वाला ख़जाना था उनकी झोली में।
अपने मरहूम शौहर शाहिद लतीफ़ और भाई अज़ीम बेग का बहुत ज़िक्र करतीं थीं। लेकिन दुःख साझे नहीं करतीं थीं। ‘जुनून’ की शूटिंग में मिलीं। मैंने पूछा कहां एक्टिंग में फंस गयीं। तो बोलीं क्या जाता है मेरा? फ़ाईव स्टार होटल और शानदार खाना है। मौज मस्ती है।चटपटे खाने की बहुत शौक़ीन थीं। खाते वक़्त खूब बातें करतीं थीं। एक बार मुझसे बोलीं, बड़ी मक्कार हो तुम। हस्बैंड को रवाना करके खूब बढ़िया-बढ़िया खाना खाती हो और गप्पें मारती हो। छोटी-छोटी बातों का बहुत ध्यान रखतीं थीं। पूरा सूटकेस पलट देतीं। समझौते नहीं कर सकतीं थीं। मैंने ऊपरी तौर पर उन्हें ज़िंदगी से भरपूर देखा।
लेकिन अंदर से मायूस और तनहा पाया। उन्होंने अपनी बेटियों का ज़िक्र बहुत कम किया। हां, नाती को कभी-कभी याद ज़रूर कर लेतीं। किसी को उनकी फ़िक़्र नहीं होती थी कि वो कहां हैं, कैसी हैं और कब लौटेंगी। उन दिनों वो हमारे घर पर रुकीं थीं। उनके लिए बंबई से फ़ोन आया। फलां फ्लाईट से फ़ौरन रवाना कर दें। मैं और मेरे पति अनवर उन्हें एयरपोर्ट छोड़ने गए।
वहीं बंबई जा रहे एक दोस्त मिल गए। हमने इस्मत आपा को उनके सिपुर्द कर दिया, इस ताक़ीद के साथ कि रास्ते भर उनका हर क़िस्म का ख्याल रखें और एयरपोर्ट से घर के लिए टैक्सी भी कर दें। दोस्त ने लौट कर बताया कि वो बलां की ज़िद्दी निकलीं. बंबई एयरपोर्ट पर उन्हें लेने कोई नहीं आया। टैक्सी करके सीधा बांद्रा चली गयीं अपने एक दोस्त के घर।
प्रसिद्ध लेखिका शबनम रिज़वी ने इस्मत आपा के अफ़सानों और नावेलों के किरदारों पर बड़े विस्तार से रौशनी डाली। वो खुद अव्वल दरजे की ज़िद्दी थीं। उनके किरदारों में अजीबो-ग़रीब ज़िद्द और इंकार साफ़ दिखता है। मुहब्बत करने वाला नफ़रत का इज़हार करता है। खेल-खेल में बात शुरू होती है। फिर नफ़रत में तब्दील हो जाती है। किरदार एक दूसरे पर हमला करते हैं मगर आख़िर आते-आते भावुक हो जाते हैं। उनके किरदार वक़्त के साथ बदलते भी रहते हैं,महिलाओं के लिए बहुत लिखा उन्होंने।
हिंदी साहित्य के सुप्रसिद्ध समालोचक वीरेंद्र यादव ने रशीद जहां, अतिया हुसैन और कुर्तनलैन हैदर की पंक्ति में इस्मत चुग़ताई को रखते हुए बहुत बड़ी लेखिका बताया। यह सब लखनऊ के आधुनिक आईटी कॉलेज की पढ़ी हुईं थीं। उन्होंने अपने समाज की चिंता के साथ महिलाओं की आज़ादी की बात की है।
उनकी प्रसिद्ध कृति ‘लिहाफ़’ में शोषण के परिप्रेक्ष्य की सिर्फ़ बात नहीं है। उनमें फ़िक्र है कि हालात क्या हैं, रिश्ते क्या हैं और ऐसे रिश्ते क्यों हैं और उनके किरदारों के शौक क्या हैं?…उन्होंने सेक्सुल्टी की बात की। उस भाषा में बात की जो उनके समाज के मिडिल क्लास में बोली जाती है और उन विषयों पर लिखा जिन पर कभी किसी की निग़ाह नहीं गयी थी। वो मूल्यों के साथ जुडी रहीं, कभी किसी तहरीक़ के साथ जुड़ कर नहीं लिखा। थोपी हुई बातें नहीं मानीं,जो मन में आया, लिखा।
उनके अफ़सानों में 1947 के पार्टीशन से उपजे सांप्रदायिक दंगों का दर्द है। दिलों में दरारें पड़ने का दर्द है, ऐसे संगीन माहौल में एक लेखक का फ़र्ज़ बनता है कि वो हस्तक्षेप करें और ये इस्मत आपा ने पूरे समर्पण के साथ बखूबी किया। वो पाखंड की धज्जियां उड़ाती हैं।
‘कच्चे धागे’ कहानी में उनकी यह फ़िक्र और उनकी विचारधारा दिखती है कि वो किसके साथ खड़ी हैं। बापू की जयंती के रोज़ आत्माएं शुद्द हो रही हैं, गंदी और घिनौनी, मगर लालबाग़ और परेल के इलाकों में एक भी तकली नाचती नज़र नहीं आती है।
पच्चीस हज़ार श्रमिक कामगार मैदान में जमा हैं। छटनी की धार से ज़ख्मी मज़दूर, फीसों से कुचले विद्यार्थी, महंगाई के कारक और शिक्षक उम्मीद भरी नज़रों से आज़ाद मुल्क के रहनुमाओं को ताक रहे हैं। इंसान इंसान से नहीं हैवान से लड़ेगा। कामगार मैदान के चारों ओर पुलिस का पहरा है। मगर नाज़ायज़ शराब पर नहीं है, काले बाज़ार और चोर उच्चकों पर नहीं है। मैं इनके साथ हूं। भले मैं इस तूफ़ान में कतरा हूं लेकिन हर कतरा एक तूफ़ान है। आज बहुमतवादी आतंक है,मूल्यों का क्षरण हो रहा है। ऐसे में इस्मत आपा की और उनके जैसे समर्पित लेखन की सख़्त ज़रूरत है।
मशहूर सीनियर उर्दू अफ़सानानिगार रतन सिंह ने इस्मत आपा को याद करते हुए बताया कि वो बेहद संजीदा औरत थीं। एक वाक़या याद है। एक जलसे में उनको सुनने और देखने वालों से हाल भरा हुआ था और मैं जगह न मिलने की वज़ह से पीछे एक कोने में खड़ा था। इस्मत आपा ने देखा, ज़ोर से बोलीं -रतन सिंह पीछे क्यों खड़े हो? आगे आओ। इसके पीछे उनका मक़सद था, नई पीढ़ी के अदीबों आगे आओ। सीनियर अदीब जूनियर के लिए रास्ता साफ़ करे। एक जनरेशन दूसरी जेनरेशन को तैयार करे।हमें उनके काम को आगे बढ़ाना चाहिए। आज मुल्क़ में कोई ऐसा रिसाला नहीं है जिसमें पूरे मुल्क़ के अदब को देखा जा सके।
मशहूर सीनियर उर्दू अफ़सानानिगार और सहाफ़ी आबिद सुहैल ने बताया कि इस्मत आपा सिर्फ़ हिंदुस्तान में ही नहीं बल्कि सारी दुनिया में मशहूर थीं। पहली मरतबे उन्हें 1962 में देखा था। लखनऊ के बर्लिंग्टन होटल में एक जलसा हुआ। बेशुमार नौजवान अदीब जमा हुए इस्मत आपा को देखने और सुनने। उन्होंने अपील की, घर से बाहर निकलो, लोगों से मिलो, उन्हें देखो और लिखो। इस्मत आपा शादी के कुछ दिनों बाद तक अपने शौहर शाहिद लतीफ़ के नाम से लिखती रहीं। बाद में अपने नाम से लिखा,औरत जब चुटकी लेती है तो मर्द कसमसा कर रहा जाता है। इस्मत आपा इसमें माहिर थीं।
एक जलसे में जाने से पहले शाहिद ने उनसे कहा, मेरी कहानी के मुतल्लिक कुछ नहीं कहना. मुंह बिलकुल बंद रखना। लेकिन वो अपना वादा नहीं निभा सकीं। शाहिद लतीफ़ के अफ़साने की बखिया उधेड़ कर रख दी। वापसी पर शाहिद ड्राइव कर रहे थे और इस्मत उनका चेहरा देख रहीं थीं कि शाहिद कुछ बोलेंगे। लेकिन वो बिलकुल ख़ामोश रहे।
एक वाकया रामलाल के घर पर हुआ। हम सब वहां पहुंचे। रामलाल वो तमाम खतूत संभालने और खंगालने में लगे थे जिन्हें तमाम अदीबों ने उन्हें लिखे थे। इस्मत बोलीं यह सब बेकार मेहनत क्यों कर रहे हो? तुम्हारे जाने के बाद सब ख़त्म हो जाएगा। कोई इन्हें संभाल नहीं रखेगा। इस्मत के अफ़सानों में डायलॉग बहुत कम हैं। कहानी बनाई नहीं जाती, बल्कि चलती रहती है।

कार्यक्रम के अध्यक्ष और ,जेएनयू के पूर्व प्रोफ़ेसर और उर्दू समालोचक शारिब रुदौलवी की निग़ाह में इस्मत चुग़ताई की कहानियां ख़ास तरह की थीं। तरक़्क़ीपसंद अफ़साने लिखे, फ़िक्री कहानियां लिखीं, जिनकी बुनियाद मसायल हैं। मसायल में इंसान के काम की अहमियत है। उर्दू में भंगी समाज पर सिर्फ़ दो अफ़साने लिखे गए हैं। एक कृष्ण चंदर ने लिखा – कालू भंगी और दूसरा लिखा इस्मत ने – दो हाथ। यह इस्मत की ही हिम्मत थी कि उन्होंने उस किरदार की समाज में अहमियत बताई। उनके अफ़सानों को पढ़ कर लोग हैरान होते थे जब उन्हें यह पता चलता था कि ये खातून ने लिखे हैं। उस दौर में यह बहुत बड़ी बात थी,अफ़साना तो कोई भी लिख सकता है।
सवाल यह है कि मसला क्या है? इस्मत ऐसे मसायल लेकर चलती हैं जिनमें औरत की जद्दोजहद पूरी शिद्दत के साथ पेश की जाती है। उसे समाज में हक़ दिलाती हैं। इस्मत ने बदनामियों को झेल कर औरत को उसका मुक़ाम दिलाया. आज़ादी दिलाई। अफ़साने आते रहेंगे और अफ़सानानिगार भी. लेकिन इस्मत का आना मुश्किल है। इस्मत आपा वाक़ई अद्भुत थीं। वो मेरे वालिद, उर्दू के मशहूर अफ़सानानिगार रामलाल, की दोस्त थीं। हमारे घर पर रहीं भी,मैंने उन्हें पहली मरतबे 1962 में देखा था। वो चारबाग़ वाले हमारे घर आईं थीं। बेहद ख़ूबसूरत,मैं तो उन पर फ़िदा हो गया था। उस वक़्त मेरी उम्र महज़ बारह साल थी।
साल1987 में वो हमारे इंदिरा नगर घर आयीं।दो रोज़ रहीं भी।उनसे मैंने सिनेमा के बारे बहुत लंबी बात की। खास तौर पर दिलीप कुमार के बारे में। उनके शौहर शाहिद लतीफ़ ने दिलीप कुमार को ‘शहीद’ और ‘आरज़ू’ में डायरेक्ट किया था। इसकी कहानी इस्मत आपा ने लिखी थी।
शाहिद ने गुरुदत्त की ‘बहारें फिर भी आयेंगी’ भी डायरेक्ट की थी। एक बार जब मैं बंबई घूमने गया था तो इस्मत आपा से तो घर पर मुलाक़ात हुई लेकिन शाहिद लतीफ़ साहब से मिलने हमें श्री साउंड स्टूडियो जाना पड़ा, जहां वो चिल्ड्रन फिल्म सोसाइटी के लिए ‘जवाब आएगा’ के शूटिंग कर रहे थे। इस्मत आपा बहुत बिंदास थीं और जो बात उन्हें पसंद नहीं थी तो लाख बहस के वो हां नहीं करती थीं।
एक बार मैंने उनसे कहा रामायण सीरियल का राम अरुण गोविल मुझे फूटी आंख नहीं सुहाता। इस पर वो बहुत नाराज़ हुईं, वो थ्री कैसल विदेशी सिगरेट पी रही थीं। मैं उन्हें ललचाई आंखो से देख रहा था। वो समझ गयीं। अपने पर्स से एक डिब्बी निकाल कर मेरी जेब में डाल दी। मैंने इसे किसी से शेयर नहीं किया। रोज़ एक एक करके धुआं कर डाली।
उनके इंतक़ाल की ख़बर ने मुझे हतप्रभ कर दिया था। बड़ा अजीब लगता है और ख़ालीपन सा भी, जब कोई ऐसा गुज़र जाए जिसे आपने बहुत करीब से देखा और समझा होऔर फिर इस्मत आपा तो हमारे परिवार की सदस्य थीं। इस कार्यक्रम में साहित्य, रंगमंच और पत्रकारिता से जुड़े जुगल किशोर, के.के.चतुर्वेदी, सुशीला पुरी, विजय राज बली, ऋषि श्रीवास्तव आदि तमाम जानी-मानी हस्तियों मौजूद थीं।

गांगुली का 160वां जन्मदिन गूगल डूडल पर मनाया

अकांशु उपाध्याय                    
नई दिल्ली। क्या आप जानते हैं कि भारत की पहली महिला डॉक्टर कौन थीं, अगर नहीं तो आज गूगल डूडल जरूर देख लें। गूगल अपने डूडल के जरिए आज पहली महिला डॉक्टर कादंबिनी गांगुली का 160वां जन्मदिन मना रहा है। जिस समय महिलाएं घूंघटे में रहती थी उस समय कादंबिनी गांगुली ने समाज की परवाह किए बिना चिकित्सा के क्षेत्र में पुरुषों के बराबर पहुंच कर महिलाओं का सम्मान बढ़ाया और सबकी प्रेरणा भी बनीं।
 इनका जन्म 18 जुलाई, 1861 भागलपुर ब्रिटिश भारत (अब बांग्लादेश में) में हुआ था। कादंबिनी गांगुली आगे जाकर एक डॉक्टर और स्वतंत्रता सेनानी बनीं। इन्हें महिला अधिकार संगठन का पहला सह-संस्थापक भी बनाया गया।1883 में, कादंबिनी बोस ने प्रोफेसर और कार्यकर्ता द्वारकानाथ गांगुली से शादी की। वास्तव में, द्वारकानाथ ही थे जिन्होंने अपनी पत्‍नी को मेडिकल में डिग्री हासिल करने के लिए प्रोत्साहित किया।
1884 में कोलकाता मेडिकल कॉलेज में प्रवेश पाने वाली पहली महिला बनीं। 
1886 में उन्होंने कलकत्ता मेडिकल कॉलेज से स्नातक की उपाधि प्राप्त की, और इस प्रकार, भारतीय-शिक्षित डॉक्टर बनने वाली पहली महिला के रूप में इतिहास रच दिया। फिर यूनाइटेड किंगडम में काम करने और अध्ययन के बाद वे स्त्री रोग विशेषज्ञ बनकर अपनी निजी प्रैक्टिस करने भारत लौटीं। हालांकि, 03 अक्टूबर 1923 को उन्होंने कोलकाता में अंतिम सांस ली।

कान फिल्म समारोह में पुरस्कार से सम्मानित किया

कविता गर्ग                        
मुबंई। फ्रांसीसी फिल्म निर्देशक जूलिया डुकोरनू को उनकी फिल्म ‘टाइटन’ के लिए कान फिल्म महोत्सव में ‘पाम डी’ओर’ पुरस्कार से सम्मानित किया गया और इसी के साथ वह पिछले 28 साल में यह पुरस्कार जीतने वाली पहली महिला निर्देशक बन गई हैं। इस फिल्मोत्सव में पुरस्कारों के लिए चयन स्पाइक ली की अध्यक्षता वाली जूरी ने किया। ये पुरस्कार शनिवार को ग्रैंड थियेटर लुमियरे में 74वें कान फिल्म महोत्सव के समापन समारोह में दिए गए। इस फिल्म महोत्सव के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ कि मुख्य अंतरराष्ट्रीय प्रतिस्पर्धा जूरी में महिलाओं की संख्या पुरुषों की संख्या से ज्यादा रही।
डुकोरनू पाम डी’ओर पुरस्कार जीतने वाली अब तक की दूसरी महिला निर्देशक हैं। इससे पहले न्यूजीलैंड की जेन केम्पियन को ‘द पियानो’ के लिए 1993 में ‘पाम डी’ऑर’ पुरस्कार से नवाजा गया था। वहीं महोत्सव में दूसरे स्थान का पुरस्कार माने जाने वाले ‘ग्रैंड प्रिक्स’ के लिए दो फ़िल्मों को चुना गया। इसे ईरान के फिल्म निर्देशक असगर फरहादी की ‘ए हीरो’ और फिनलैंड के जूहो कुओसामेन के ‘कंपार्टमेंट नंबर 6’ को दिया गया।
वहीं लियोस कराक्स को ‘एनेट’ के लिए सर्वश्रेष्ठ निर्देशक का पुरस्कार दिया गया। सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का पुरस्कार कालेब लैंड्री को ‘निट्रम’ के लिए दिया गया, जबकि सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री का पुरस्कार रिनेट रीन्सवे के नाम रहा।

भारत: 88 सदस्य खिलाड़ियों का दल 'जापान' पहुंचा

अखिलेश पांडेय  
टोक्यो। ओलंपिक में कुछ कर गुजरने के लक्ष्य के साथ भारतीय दल का 88 सदस्यीय पहला जत्था 23 जुलाई से शुरू होने वाले खेलों के लिए रविवार की सुबह जापान पहुंच गया। कोविड-19 महामारी के बीच आयोजित किए जा रहे खेलों के लिए भारत के आठ खेलों तीरंदाजी, बैडमिंटन, टेबल टेनिस, हॉकी, जूडो, जिम्नास्टिक, तैराकी और भारोत्तोलन के खिलाड़ी, सहयोगी स्टाफ और अधिकारी नई दिल्ली से विशेष विमान से जापान की राजधानी पहुंचे।
पहला जत्था 88 सदस्यों का है। जिनमें 54 खिलाड़ियों के अलावा सहयोगी स्टाफ और भारतीय ओलंपिक संघ (आईओए) के प्रतिनिधि भी शामिल हैं। भारतीय खिलाड़ियों का हवाई अड्डे पर कुरोबे शहर के प्रतिनिधियों ने स्वागत किया। उनके हाथों में बैनर थे जिन पर लिखा था, ”कुरोबे भारतीय खिलाड़ियों का समर्थन करता है।
हॉकी में पुरुष और महिला हॉकी टीमें शामिल हैं। यह किसी एक खेल में भारत का सबसे बड़ा दल है। इससे पहले शनिवार की रात को खेल मंत्री अनुराग ठाकुर ने नई दिल्ली में इंदिरा गांधी हवाई अड्डे पर हर्ष ध्वनि, तालियों की गड़गड़ाहट और शुभकामना संदेशों के साथ भारतीय दल को औपचारिक विदाई दी। हवाई अड्डे पर अप्रत्याशित दृष्य देखने को मिला। ओलंपिक दल के लिए लाल कालीन बिछाया गया था।
खिलाड़ियों की विदाई के लिए इतना उत्साह बना हुआ था कि भारत सरकार ने इन सदस्यों की कागजी औपचारिकताओं को पूरा करने के लिए विशेष व्यवस्था की थी। ठाकुर के अलावा विदाई समारोह में खेल राज्यमंत्री निसिथ प्रमाणिक, भारतीय खेल प्राधिकरण (साइ) के महानिदेशक संदीप प्रधान, आईओए के अध्यक्ष नरिंदर बत्रा और महासचिव राजीव मेहता ने भी हिस्सा लिया।
भारत के कुछ खिलाड़ी विदेशों में अपने अभ्यास स्थलों से पहले ही टोक्यो पहुंच चुके थे। भारत की एकमात्र भारोत्तोलक मीराबाई चानू अमेरिका के सेंट लुई में अपने अभ्यास स्थल से शुक्रवार को टोक्यो पहुंची। मुक्केबाज और निशानेबाज इटली और क्रोएशिया में अपने अभ्यास स्थलों से यहां पहुंचे हैं। भारत का 228 सदस्यीय दल ओलंपिक में भाग लेगा जिसमें 119 खिलाड़ी शामिल हैं 
भारत से सबसे पहले चार भारतीय नाविक नेत्र कुमानन और विष्णु सरवनन (लेजर क्लास), केसी गणपति और वरुण ठक्कर (49ईआर क्लास) यूरोप में अपने अभ्यास स्थलों से टोक्यो पहुंचे थे। उन्होंने गुरुवार को अभ्यास भी शुरू कर दिया है। इसके अलावा रोइंग टीम भी टोक्यो पहुंच चुकी है।

योगी जीते तो राज्य छोड़ बंगाल चलें जाएंगे: एलान

हरिओम उपाध्याय                   
लखनऊ। शायर मुनव्वर राना ने कहा है कि अगले साल उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में भी यदि योगी आदित्यनाथ जीते तो वह राज्य छोड़ कोलकाता में बस जाएंगे। उन्होंने शनिवार को ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी पर भी निशाना साधा और कहा कि ओवैसी मुसलमानों का वोट बांटने तथा भाजपा को मदद करने उत्तर प्रदेश आए हैं। मुनव्वर राना ने कहा कि ओवैसी की वजह से अगर प्रदेश में भाजपा जीती और योगी आदित्यनाथ दोबारा मुख्यमंत्री बने तो वो यूपी छोड़ कोलकाता लौट जाएंगे। उनका कहना है कि यूपी में मुसलमानों का वोट बंट जाता है। 
ओवैसी यूपी आकर यहां के मुसलमानों को बरगला रहे हैं। इस तरह वह मुसलमानों के वोट बैंक को बांटकर भाजपा की मदद कर रहे हैं।
पिछले दिनों एटीएस द्वारा राजधानी में आतंकियों की गिरफ्तारी को लेकर मुनव्वर राना ने कहा कि चुनाव जीतने के लिए ये सब किया जा रहा है। भाजपा सरकार का एक ही काम है कि किसी भी तरीके से मुसलमानों को परेशान करो। चाहे वो धर्मांतरण कानून व जनसंख्या नियंत्रण कानून का मामला हो या फिर आतंकवाद के नाम पर गिरफ्तारी।इससे पहले एक और दो जुलाई का रात को मशहूर शायर मुन्नवर राना के लखनऊ के लालकुआं स्थित फ्लैट पर रायबरेली पुलिस ने उनके बेटे तबरेज राना की तलाश में छापा मारा था। कार्रवाई को लेकर मुन्नवर राना व उनकी बेटियों ने पुलिस पर अभद्रता के आरोप लगाए थे। 28 जून को रायबरेली में राना के बेटे तबरेज पर जानलेवा हमला हुआ था। वहीं, पुलिस ने रायबरेली में चार लोगों को गिरफ्तार कर खुलासा किया था कि तबरेज राना ने चार चाचा व चचेरे भाइयों को फंसाने के लिए खुद अपनी कार पर फायरिंग कराई थी। 
साजिश रचने को लेकर उसकी तलाश में ही छापा मारा गया था। मुन्नवर राना का आरोप था कि रात में अचानक पुलिस उनके फ्लैट पर पहुंची और दरवाजा पीटने लगी। इससे परिवार के लोग दहशत में आ गए। दरवाजा खोला तो आठ-दस पुलिसकर्मी धड़धड़ाते हुए घुसे और हर कमरे में तबरेज को ढूंढने लगे। मुन्नवर राना के परिवार की महिलाओं और बच्चियों ने देर रात पुलिस के ऐसे फ्लैट में घुसने का विरोध किया। आरोप है कि जब वीडियो बनाना शुरू किया तो एक पुलिसकर्मी ने मोबाइल छीन लिया था। 28 जून को मुनव्वर राना के बेटे तबरेज राना ने रायबरेली में सदर कोतवाली में मुकदमा दर्ज कराया था। 
उनका आरोप था कि वह अपनी कार में डीजल लेकर निकल रहे थे तभी एक बाइक पर सवार दो युवकों ने कार पर फायरिंग कर दी।तबरेज का कहना था कि वह अपनी लाइसेंसी गन लेकर नीचे उतरे तो नकाबपोश बदमाश मौके से भाग गए। पुलिस ने पेट्रोल पंप के सीसीटीवी कैमरे की फुटेज लेकर मामले की जांच शुरू की। पुलिस का दावा था कि तबरेज पर हमले का पूरा मामला फर्जी है। खुद तबरेज ने अपने चाचा और चचेरे भाइयों को फसाने के लिए मुकदमा दर्ज कराया था।

अभिनेत्री प्रियंका ने अपनी तस्वीरें शेयर की: मुंबई

कविता गर्ग                 
मुंबई। बॉलीवुड ऐक्ट्रेस प्रियंका चोपड़ा ने अपनी बोल्ड तस्वीरें फैंस के साथ शेयर की हैं। जिसमें प्रियंका चोपड़ा ब्लैक क्लर के स्विमसूट में नज़र आ रही हैं। ऐक्ट्रेस प्रियंका चोपड़ा ने बॉलीवुड से लेकर हॉलीवुड तक अपनी अलग पहचान बनाई है। इसी के साथ प्रियंका चोपड़ा सोशल मीडिया पर आए दिन अपनी ग्लैमरस तस्वीरें शेयर करती रहती हैं। प्रियंका चोपड़ा ने अपना जन्मदिन मनाने से पहले आज फिर अपनी बोल्ड तस्वीरें फैंस के साथ शेयर की हैं। 
जिन्हें देखने के बाद फैंस का दिल धड़कने को मजबूर है। इन तस्वीरों में प्रियंका चोपड़ा ने ब्लैक क्लर का स्विमसूट पहनकर ग्लैमरस फोटोज़ शेयर कर अरना जलवा बिखेरा है। प्रियंका चोपड़ा ने शनिवार को अपने इंस्टाग्राम अकाउंट से दो तस्वीरें शेयर करी हैं।
दरअसल, प्रियंका चोपड़ा ने इन तस्वीरों से ऐक्सपेक्टेशन और रिऐलिटी में फर्क दिखाया है। पहली तस्वीर में प्रियंका चोपड़ा के चहरे पर कोई भाव नहीं है वहीं दूसरी तस्वीर में वो हंसती हुई नज़र आ रही है।
प्रियंका चोपड़ा को इंस्टाग्राम पर 65 मिलियन से ज्यादा लोग फॉलो करते हैं। 
वहीं, प्रियंका चोपड़ा के तमाम फैंस इस पोस्ट पर रिऐक्शन दे रहे हैं। एक्ट्रेस के प्रोफेशनल फ्रंट की बात करें तो प्र‍ियंका ने बॉलीवुड से हॉलीवुड तक का लंबा सफर कड़ी मेहनत और खुद के बलबूते पर तय किया है। आज वे अपने काम से अंतराष्ट्रीय स्तर पर भी अपनी एक अलग पहचान रखती हैं।

हादसा: कॉलेज के बाहर खड़े लोगों को ट्रक ने कुचला

हरिओम उपाध्याय                          
शाहजहांपुर। दिल्ली से शाहजहांपुर आ रही एक निजी बस रविवार सुबह यहां तिलहर थाना क्षेत्र स्थित एक मेडिकल कॉलेज के बाहर खड़े लोगों को कुचलते हुए एक पेड़ से जा टकराई। जिससे तीन लोगों की घटनास्थल पर ही मौत हो गई और करीब 14 लोग गंभीर रूप से घायल हो गये। तिलहर थाने के प्रभारी संजय कुमार सिंह ने रविवार को बताया कि दिल्ली से सवारियां लेकर शाहजहांपुर आ रही एक प्राइवेट बस का चालक थाना अंतर्गत राष्ट्रीय राजमार्ग पर रविवार सुबह छह बजे संतुलन खो बैठा और बस बंथरा मेडिकल कॉलेज के पास कई खोखों को तोड़ती हुई एक पेड़ से टकरा गई।
उन्होंने बताया कि घटना में तीन लोगों की मौके पर ही मौत हो गई और बस में बैठे करीब 14 लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। पुलिस ने मृतकों के शवों को कब्जे में ले लिया है तथा घायलों को नजदीकी मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया है।
थाना प्रभारी ने बताया कि मृतकों की पहचान हरदोई जिले के अशहर (45) तथा शाहजहांपुर के सुरेश (40) के रूप में हुई है जबकि एक मृतक की पहचान अभी नहीं हो पाई है और उसकी शिनाख्त करने के प्रयास किए जा रहे हैं। जिन लोगों की हादसे में मौत हुई है, वे चाय के खोखे के पास खड़े होकर चाय पी रहे थे। पुलिस ने मृतकों के शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।

रसायन रिसाव के कारण कई लोगों की त्वचा में जलन

ह्यूस्टन। ह्यूस्टन के एक वाटर पार्क में रसायन रिसाव की वजह से कई लोगों को त्वचा में जलन और सांस लेने में तकलीफ के बाद अस्पताल में भर्ती होना पड़ा। अधिकारियों ने यह जानकारी दी।
हैरिस काउंटी अग्निशमन मार्शल कार्यालय ने एक ट्वीट में बताया कि शनिवार को सिक्स फ्लैग्स हरिकेन हार्बर स्पलैशटाउन में हुई घटना के बाद 29 लोगों को अस्पताल ले जाया गया। वहीं 39 अन्य लोगों ने प्राथमिक तौर पर उपचार के बाद अस्पताल जाने से इनकार कर दिया।
केपीआरसी-टीवी की खबरों के मुताबिक रसायन रिसाव की वजह से बीमार पड़ने वाले लोगों में कुछ बच्चे भी शामिल हैं, जिनमें से एक की उम्र तीन साल है और अस्पताल में उसकी हालत स्थिर बताई गई है। अधिकारियों ने बताया कि ये रसायन हाइपोक्लोराइट घोल और 35 प्रतिशत सल्फरिक अम्ल (तेजाब) थे।
मीडिया में आयी खबरों के मुताबिक हरिकेन हार्बर स्पलैशटाउन की प्रवक्ता रोजी शेफर्ड ने एक बयान में कहा, ”हमारे अतिथियों और टीम के सदस्यों की सुरक्षा हमेशा ही हमारी शीर्ष प्राथमिकता रही है और रिसाव के पीछे की वजह का पता लगाने के लिए पार्क को तत्काल खाली करा लिया गया।

अलर्ट जारी किया, आधार-पैन लिंक कराना अनिवार्य

अकांशु उपाध्याय                       
नई दिल्ली। अगर आपका खाता भारतीय स्टेट बैंक यानी एसबीआई में है तो बैंक ने आपके लिए अलर्ट जारी किया है। एसबीआई ने कहा है कि पैन और आधार लिंक करना अनिवार्य है। ऐसे में अगर किसी ने अपना पैन और आधार लिंक नहीं कराया है तो वे जल्द से जल्द इसे पूरा कर लें। इसके लिए अंतिम तारीख 30 सितंबर तय की गई है। अगर कोई भी खाताधारक 30 सितंबर से पहले अपना पैन और आधार नहीं लिंक करा पाता है तो उसका पैन कार्ड निष्क्रिय हो जाएगा। इसके बाद वे कई तरह के वित्तीय लेनदेन नहीं कर पाएंगे। ऐसे में हर किसी के लिए पैन और आधार कार्ड लिंक करना जरूरी है। इसके लिए इनकम टैक्स की वेबसाइट पर जाकर आसानी से आधार और पैन कार्ड लिंक कराया जा सकता है। पैन कार्ड निष्क्रिय होने पर जुर्माना तक अदा करना पड़ सकता है। 
पैन कार्ड को एक्टिव करने के लिए 1000 रुपये तक की लेट फीस देनी पड़ सकती है। वहीं, अगर किसी का पैन निष्क्रिय हो गया है तो उस पर आयकर कानून के सेक्शन 272B के अंतर्गत 10,000 रुपये का जुर्माना लग सकता है।
आप आयकर रिटर्न ई-फाइलिंग की नई वेबसाइट https://www.incometax.gov.in/ पर लॉग ऑन करें। यहां पर आपको ‘लिंक आधार’ विकल्प मिलेगा। आपको इसी लिंक पर क्लिक करना है। इसके बाद मांगे गए जगह पर पैन और आधार नंबर दर्ज करें। इसके बाद आधार-पैन लिंक का स्टेटस चेक करें। अगर आपका पैन कार्ड आधार कार्ड से लिंक हैं तो आपको ‘Your PAN is linked to Aadhaar Number’ ये मैसेज नजर आएगा। अगर आपने अभी तक आधार कार्ड और पैन कार्ड लिंक नहीं किया है तो आपको अपनी डिटेल्स भरनी होंगी और आपका पैन कार्ड आधार कार्ड से लिंक हो जाएगा।

संक्रमित लोगों की संख्या बढ़कर 3,11,06,065 हुईं

अकांशु उपाध्याय             
नई दिल्ली। भारत में 41,157 और लोगों के कोरोना वायरस से संक्रमित पाए जाने के बाद देश में अब तक संक्रमण की चपेट में आए लोगों की संख्या बढ़कर 3,11,06,065 हो गई। जबकि 518 और लोगों के जान गंवाने से मृतकों की संख्या बढ़कर 4,13,609 पर पहुंच गयी। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के रविवार सुबह आठ बजे तक अद्यतन आंकड़ों के अनुसार, उपचाराधीन मरीजों की संख्या कम होकर 4,22,660 हो गयी। जो संक्रमण के कुल मामलों का 1.36 प्रतिशत है।
कोविड-19 से स्वस्थ होने वाले लोगों की राष्ट्रीय दर 97.31 प्रतिशत है। उसने बताया कि पिछले 24 घंटों में 1,365 मरीज संक्रमण मुक्त हुए हैं। शनिवार को कोविड-19 के लिए 19,36,709 नमूनों की जांच की गयी और इसके साथ ही अब तक इस महामारी का पता लगाने के लिए किए गए नमूनों की जांच की संख्या 44,39,58,663 हो गयी है। आंकड़ों के मुताबिक, इस बीमारी से स्वस्थ होने वाले लोगों की संख्या बढ़कर 3,02,69,796 हो गयी है। जबकि मृत्यु दर 1.33 प्रतिशत है। 
देशव्यापी टीकाकरण अभियान के तहत अभी तक टीके की कुल 40.49 करोड़ खुराक दी जा चुकी हैं। देश में पिछले साल सात अगस्त को संक्रमितों की संख्या 20 लाख, 23 अगस्त को 30 लाख और पांच सितम्बर को 40 लाख से अधिक हो गई थी। वहीं, संक्रमण के कुल मामले 16 सितम्बर को 50 लाख, 28 सितम्बर को 60 लाख, 11 अक्टूबर को 70 लाख, 29 अक्टूबर को 80 लाख, 20 नवम्बर को 90 लाख के पार हो गए। देश में 19 दिसम्बर को ये मामले एक करोड़ के पार, चार मई को दो करोड़ के पार और 23 जून को तीन करोड़ के पार चले गए थे।

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण 

1. अंक-337 (साल-02)
2. सोमवार, जुलाई 19, 2021
3. शक-1984,अषाढ़, शुक्ल-पक्ष, तिथि-नवमी, विक्रमी सवंत-2078।
4. सूर्योदय प्रातः 05:38, सूर्यास्त 07:15।
5. न्‍यूनतम तापमान -25 डी.सै., अधिकतम-38+ डी.सै.। बरसात की संभावना बनी रहेंगी।
6.समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है।
7.स्वामी, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी।
8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102।
9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.-20110
http://www.universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
संपर्क सूत्र :- +919350302745  
                     (सर्वाधिकार सुरक्षित)

एसडीएम ने किसानों का धरना समाप्त कराया

एसडीएम ने किसानों का धरना समाप्त कराया आदर्श श्रीवास्तव लखीमपुर खीरी। अपनी बदहाली सेे लडता किसान गणतंत्र की गहरी खाई में जा पहुंचा हैं। मध-म...