रविवार, 3 अप्रैल 2022

5 अप्रैल को विशेष विधानसभा सत्र बुलाने का फैसला

5 अप्रैल को विशेष विधानसभा सत्र बुलाने का फैसला       

राणा ओबरॉय          

पंचकुला। चंडीगढ़ पर पंजाब के दावे के बाद अब हरियाणा सरकार ने भी 5 अप्रैल को एक दिन का विशेष विधानसभा सत्र बुलाने का फैसला किया है। मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर के आवास पर हुई कैबिनेट मीटिंग में यह फैसला किया गया है। बता दें कि इससे पहले 1  अप्रैल को पंजाब में विशेष सत्र बुलाया गया था और चंडीगढ़  पर अपने दावे का प्रस्ताव पास किया गया था। चंडीगढ़ हरियाणा की भी राजधानी है, इसलिए यहां की सरकार ने प्रतिक्रिया दी है। हरियाणा के मुख्यमंत्री ने पंजाब के प्रस्ताव के बारे में कुछ नहीं कहा है। हालांकि कांग्रेस और इंडियन नेशनल लोकक दल ने तुरंत विधानसभा का सत्र बुलाए जाने और सर्वदलीय बैठक की मांग की है। वहीं हरियाणा में आम आदमी पार्टी की स्टेट यूनिट ने कोई भी बयान देने से किनारा कर लिया है। सूत्रों का कहना है कि हरियाणा सरकार पंजाब सरकार के प्रस्ताव के खिलाफ कोई प्रस्ताव लाने नहीं जा रही है। 

बल्कि, एसवाईएल मुद्दे को फिर से उठानाा चाहती है। 5 अप्रैल को सुबह बिजनेस अडवाइजरी कमिटी की बैठक होगी और 11 बजे सत्र की शुरुआत होगी। बता दें कि विधानसभा में पंजाब के सीएम भगवंत मान ने कहा था कि आपसी भाईचारे के साथ जनता की भावनाओं को ध्यान में रखकर हम एक बार फिर से चंडीगढ़ को में शामिल करने का प्रस्ताव रखते हैं। वहीं कुछ दिन पहले ही केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने ऐलान किया था कि केंद्रशासित प्रदेश चंडीगढ़ में काम करने वाले सरकारी कर्मचारियों पर केंद्र के नियम लागू किए जाएँगे। बता दें कि पाकिस्तान के बंटवारे के बाद फैसला किया गया था कि चंडीगढ़ पंजाब और हरियाणा दोनों की ही राजधानी होगी।

विपक्षी नेताओं ने 'एससी' का दरवाजा खटखटाया

विपक्षी नेताओं ने 'एससी' का दरवाजा खटखटाया      

अखिलेश पांडेय        

इस्लामाबाद। पाकिस्तान में रविवार को प्रधानमंत्री इमरान खान के नेतृत्व वाली सरकार के खिलाफ लाए गए अविश्वास प्रस्ताव को बिना मतदान के ही खारिज कर दिया गया। नेशनल असेंबली के डिप्टी स्पीकर कासिम खान सूरी ने पाकिस्तानी संविधान के अनुच्छेद 5 का हवाला देते हुए इस अविश्वास प्रस्ताव को बिना वोटिंग के ही खारिज कर दिया। उधर, प्रधानमंत्री इमरान खान की सिफारिश के बाद पाकिस्तान के राष्ट्रपति ने ससंद भंग कर दी। देश में अगले आम चुनाव 90 दिन के अंदर होंगे। वहीं, इसके खिलाफ विपक्षी नेताओं ने पाकिस्तानी सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। पाकिस्तान में रविवार को प्रधानमंत्री इमरान खान के नेतृत्व वाली सरकार के खिलाफ लाए गए अविश्वास प्रस्ताव को बिना मतदान के ही खारिज कर दिया गया। नेशनल असेंबली के डिप्टी स्पीकर कासिम खान सूरी ने पाकिस्तानी संविधान के अनुच्छेद-5 का हवाला देते हुए इस अविश्वास प्रस्ताव को बिना वोटिंग के ही खारिज कर दिया। उधर, इमरान खान की सिफारिश के बाद पाकिस्तान के राष्ट्रपति ने ससंद भंग कर दी। देश में अगले आम चुनाव 90 दिन के अंदर होंगे। वहीं, इसके खिलाफ विपक्षी नेताओं ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है, जहां सुनवाई कल तक के लिए स्थगित कर दी गई है। सुप्रीम कोर्ट ने पाकिस्तान की नेशनल असेंबली को भंग करने पर सुनवाई कल यानी चार अप्रैल तक के लिए स्थगित कर दी है। पाकिस्तान की मीडिया के हवाले से यह जानकारी सामने आ रही है। मुख्य न्यायाधीश ने राजनीतिक दलों से यह कहते हुए शांति और व्यवस्था बनाए रखने की अपील की है कि रमजान का महीना चल रहा है और सभी लोग रोजा रख रहे हैं।

अपने खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव खारिज होने और संसद भंग होने के बाद प्रधानमंत्री इमरान खान ने प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने कहा कि विपक्ष अभी भी समझ नहीं पाया है कि संसद में आज क्या हुआ। पाकिस्तान के सूचना एवं प्रसारण मंत्री फवाद चौधरी ने देश के विपक्षी दलों को निशाने पर लेते हुए कहा है कि वो जनता के सामने आने में डर क्यों रहे हैं। चौधरी ने कहा कि राजनीतिक दल कभी भी चुनाव से नहीं भागते हैं। राजनीतिक दलों की असली ताकत जनता होती है। उन्होंने कहा, ‘वे लोगों के सामने आने में क्यों डर रहे हैं और आंसू क्यों बहा रहे हैं।’ चौधरी ने यह भी कहा कि डिप्टी स्पीकर का फैसला अंतिम है और इसे किसी भी अदालत में चुनौती नहीं दी जा सकती है।

पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने कहा है कि इमरान खान ने देश के संविधान को कुचलने का काम किया है। उन्होंने कहा कि आज सत्ता के नशे में चूर एक व्यक्ति ने संविधान को कुचल दिया। इमरान खान, जिन्होंने अपने अहम को देश से पहले रखा, और साजिश में शामिल सभी लोग देशद्रोही हैं। पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) के अध्यक्ष बिलावल भुट्टो जरदारी ने कहा है कि देश के संविधान पर बड़ा हमला हुआ है। हम सुप्रीम कोर्ट से उम्मीद करते हैं, वह इसे ठीक करेगा। पाकिस्तान के विपक्षी नेता शहबाज शरीफ ने एक ट्वीट में लिखा है कि इमरान खान ने पाकिस्तान को अराजकता की ओर धकेला है। उन्होंने लिखा, यह देशद्रोह से कम नहीं है। संविधान का जो उल्लंघन किया है उसके गंभीर परिणाम होंगे। उन्होंने उम्मीद जताई कि सुप्रीम कोर्ट संविधान को लेकर अपनी भूमिका ईमानदारी से निभाएगा।

4 अप्रैल से प्रारंभ होगा 'स्कूल चलो अभियान'

4 अप्रैल से प्रारंभ होगा 'स्कूल चलो अभियान' 


हरिशंकर त्रिपाठी              

देवरिया। जिलाधिकारी आशुतोष निरंजन नेे सोमवार को वर्चुअल माध्यम से 4 अप्रैल से प्रारंभ होने वाले ‘स्कूल चलो अभियान’ की तैयारियों की समीक्षा की। बैठक में उन्होंने सभी संबंधित अधिकारियों को शासन की मंशानुरूप अभियान को सफल बनाने के संबंध में आवश्यक दिशा-निर्देश दिए और कहा कि यह साक्षरता प्रसार से जुड़ा अत्यंत महत्वपूर्ण अभियान है। इसमें किसी भी तरह की कोताही न बरती जाये और जनपद में 6-14 आयुवर्ग के स्कूल ड्रॉपआउट बच्चों का शत-प्रतिशत नामांकन सुनिश्चित किया जाए।

जिलाधिकारी निरंजन ने बताया कि ‘स्कूल चलो अभियान’ का शुभारंभ माननीय मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जनपद श्रावस्ती से करेंगे। उक्त कार्यक्रम का सजीव प्रसारण जनपद के सभी 2,120 परिषदीय विद्यालयों में किया जाएगा। इसके अतिरिक्त जनपद के ब्लॉक संसाधन केंद्रों पर कार्यक्रम आयोजित कर ड्रॉपआउट बच्चों को स्कूल जाने के लिए प्रेरित भी किया जाएगा। स्कूल चलो अभियान 4 अप्रैल से 30 अप्रैल तक चलेगा।

जिलाधिकारी निरंजन ने अभियान की रूपरेखा के संबंध में बताया कि 20 अप्रैल तक डोर-टू-डोर हाउसहोल्ड सर्वे किया जाएगा, जिसके माध्यम से स्कूल नहीं जाने वाले बच्चों को चिन्हित कर स्कूलों में उनका नामांकन कराया जाएगा।होटल, दुकान, मलिन बस्ती, कटान प्रभावित क्षेत्र, ईट-भट्टे आदि ऐसे संवेदनशील पॉकेट्स हैं, जहां ड्रॉपआउट बच्चे मिल सकते हैं। सर्वे के दौरान इन क्षेत्रों पर विशेष ध्यान दिया जाएगा। उन्होंने बताया कि यदि किसी विद्यालय में 45 दिन बिना कारण के कोई विद्यार्थी स्कूल नहीं जाता है तो उसकी एंट्री शारदा पोर्टल पर की जाती है और उसकी नियमित मॉनिटरिंग की जाती है।

ड्रॉपआउट बच्चों के अभिभावकों की काउंसलिंग भी की जाएगी। इस अभियान में सामुदायिक भागीदारी और क्षमता निर्माण पर विशेष जोर दिया जाएगा। ऑपरेशन कायाकल्प के अंतर्गत स्कूल आने वाले बच्चों को स्वच्छ एवं सुरक्षित वातावरण उपलब्ध कराया जा रहा है। जिलाधिकारी ने सभी बीईओ को ऑपरेशन कायाकल्प से जुड़ी परियोजनाओं को समयबद्ध तरीक़े से पूर्ण करने का निर्देश दिया। बैठक में एसडीएम ध्रुव कुमार शुक्ला, एसडीएम, संजीव उपाध्याय, बीएसए सन्तोष कुमार राय, जिला विकास अधिकारी श्रवण कुमार राय सहित समस्त ब्लॉकों के खंड विकास अधिकारी एवं खंड शिक्षा अधिकारी गण मौजूद थे।

'नवरात्रि' के शुभ अवसर पर बैठक आयोजित की

'नवरात्रि' के शुभ अवसर पर बैठक आयोजित की       

गणेश साहू               
कौशाम्बी। नवरात्रि के शुभ अवसर पर रविवार को अखिल भारतीय ब्राह्मण एकता परिषद कौशाम्बी ने जाठी गांव के हनुमान मंदिर में बैठक आयोजित की। बैठक में अखिल भारतीय ब्राह्मण एकता परिषद के सदस्यों ने साधु-संतों पुरोहित पंडितों को पेंशन दिए जाने की सरकार से मांग की हैं। यह बैठक श्रवण मिश्रा जिला उपाध्यक्ष के नेतृत्व में संपन्न हुईं। बैठक में अखिल भारतीय ब्राह्मण एकता परिषद के समस्त पदाधिकारी मौजूद रहे।
जाठी गांव के हनुमान मंदिर में सैकड़ो पुरोहित ब्राह्मणों साधुओं के साथ बैठक करते हुए ब्राह्मण एकता परिषद के पदाधिकारियों ने कहा कि पंडित पुरोहित साधु-संतों को सरकार पेंशन दे। 
वक्ताओ ने कहा कि जिसमे कर्म कांडी पुरोहित का कार्य कराने वाले ब्राह्मणों व साधु संतों को चिन्हित कर पेंशन देने की मांग सरकार से की गई एवं संगठन के विस्तार व समाज के उत्थान हेतु परिचर्चा हुआ। बैठक में श्रवण मिश्रा के द्वार ठंडाई व संगठन के जिला महामंत्री नीतीश मिश्रा के द्वारा फल वितरण एवं जिला प्रमुख अजय मिश्रा के द्वारा हनुमान चालीसा का वितरण किया गया। बैठक मे अमित त्रिपाठी जिला संयोजक, सौरभ त्रिपाठी जिला अध्यक्ष, अशोक मिश्रा मढ़ी जिला उपाध्यक्ष, हरीश दिवेदी मीडिया प्रभारी, अशोक मिश्र जिला मंत्री, अंकित त्रिपाठी जिला प्रभारी, बुध्धन प्रधान, सतेन्द्र गर्ग, शिवबाबू प्रधान कायमपुर, अंकित त्रिपाठी, ऐग्वा, अशोक त्रिपाठी, विजया चौराहा, सत्यदेव त्रिपाठी जोगापुर, कृष्ण कुमार द्विवेदी, गौरैये शशिकांत त्रिपाठी, प्रधान आशीष त्रिपाठी आदि लोग उपस्थित रहे।

'नवरात्रि' का तीसरा दिन, माता चंद्रघंटा की पूजा

'नवरात्रि' का तीसरा दिन, माता चंद्रघंटा की पूजा        

सरस्वती उपाध्याय        

नवरात्रि के नौ दिनों में मां के नौ रूपों की पूजा-अर्चना की जाती है। सोमवार को चैत्र नवरात्रि का तीसरा दिन है।नवरात्रि के तीसरे दिन मां के तृतीय स्वरूप माता चंद्रघंटा की पूजा-अर्चना की जाती है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार माता चंद्रघंटा को राक्षसों की वध करने वाला कहा जाता है। ऐसा माना जाता है, मां ने अपने भक्तों के दुखों को दूर करने के लिए हाथों में त्रिशूल, तलवार और गदा रखा हुआ है। माता चंद्रघंटा के मस्तक पर घंटे के आकार का अर्धचंद्र बना हुआ है। जिस वजह से भक्त मां को चंद्रघंटा कहते हैं। 

माता चंद्रघंटा की पूजा विधि...

  • नवरात्रि के तीसरे दिन विधि- विधान से मां दुर्गा के तीसरे स्वरूप माता चंद्रघंटा की अराधना करनी चाहिए। मां की अराधना उं देवी चंद्रघंटायै नम: का जप करके की जाती है। माता चंद्रघंटा को सिंदूर, अक्षत, गंध, धूप, पुष्प अर्पित करें। आप मां को दूध से बनी हुई मिठाई का भोग भी लगा सकती हैं। नवरात्रि के हर दिन नियम से दुर्गा चालीस और दुर्गा आरती करें।

मां चन्द्रघंटा का स्त्रोत मंत्र...

ध्यान वन्दे वाच्छित लाभाय चन्द्रर्घकृत शेखराम।

सिंहारूढा दशभुजां चन्द्रघण्टा यशंस्वनीम्घ

कंचनाभां मणिपुर स्थितां तृतीयं दुर्गा त्रिनेत्राम।

खड्ग, गदा, त्रिशूल, चापशंर पद्म कमण्डलु माला वराभीतकराम्घ

पटाम्बर परिधानां मृदुहास्यां नानालंकार भूषिताम।

मंजीर हार, केयूर, किंकिणि, रत्‍‌नकुण्डल मण्डिताम्घ

प्रफुल्ल वंदना बिबाधारा कांत कपोलां तुग कुचाम।

कमनीयां लावाण्यां क्षीणकटिं नितम्बनीम्घ

स्तोत्र आपद्धद्धयी त्वंहि आधा शक्तिरू शुभा पराम।

अणिमादि सिद्धिदात्री चन्द्रघण्टे प्रणमाम्यीहम्घ्

चन्द्रमुखी इष्ट दात्री इष्ट मंत्र स्वरूपणीम।

धनदात्री आनंददात्री चन्द्रघण्टे प्रणमाम्यहम्घ

नानारूपधारिणी इच्छामयी ऐश्वर्यदायनीम।


सौभाग्यारोग्य दायिनी चन्द्रघण्टे प्रणमाम्यहम्घ्

कवच रहस्यं श्रणु वक्ष्यामि शैवेशी कमलानने।

श्री चन्द्रघण्टास्य कवचं सर्वसिद्धि दायकम्घ

बिना न्यासं बिना विनियोगं बिना शापोद्धरं बिना होमं।

स्नान शौचादिकं नास्ति श्रद्धामात्रेण सिद्धिकमघ

कुशिष्याम कुटिलाय वंचकाय निन्दकाय च।

मां चंद्रघंटा की पूजा का महत्व...

  • मां चंद्रघंटा की कृपा से  ऐश्वर्य और समृद्धि के साथ सुखी दाम्पत्य जीवन की प्राप्ति होती है।
  • विवाह में आ रही समस्याएं दूर हो जाती हैं।

मां चंद्रघंटा की आरती...

जय मां चंद्रघंटा सुख धाम।

पूर्ण कीजो मेरे सभी काम।

चंद्र समान तुम शीतल दाती।चंद्र तेज किरणों में समाती।

क्रोध को शांत करने वाली।

मीठे बोल सिखाने वाली।

मन की मालक मन भाती हो।

चंद्र घंटा तुम वरदाती हो।


सुंदर भाव को लाने वाली।

हर संकट मे बचाने वाली।

हर बुधवार जो तुझे ध्याये।

श्रद्धा सहित जो विनय सुनाएं।

मूर्ति चंद्र आकार बनाएं।

सन्मुख घी की ज्योति जलाएं।

शीश झुका कहे मन की बाता।

पूर्ण आस करो जगदाता।

कांचीपुर स्थान तुम्हारा।

करनाटिका में मान तुम्हारा।

नाम तेरा रटूं महारानी।

भक्त की रक्षा करो भवानी।

एलटीटी-जयनगर एक्सप्रेस के 10 डिब्बे पटरी से उतरें

एलटीटी-जयनगर एक्सप्रेस के 10 डिब्बे पटरी से उतरें  

कविता गर्ग              
नासिक। महाराष्ट्र के नासिक के पास रविवार को ट्रेन हादसा हो गया। लाहवित और देवलाली के बीच 11,061 एलटीटी-जयनगर एक्सप्रेस के करीब 10 डिब्बे पटरी से उतर गए। मध्य रेलवे के सीपीआरओ के मुताबिक यह हादसा करीब 3.10 बजे डाउन लाइन पर लाहवित और देवलाली (नासिक के पास) के बीच हुआ। जिसमें ट्रेन के कुछ डिब्बे पटरी से उतर गए।
घटना के बाद दुर्घटना राहत ट्रेन और मेडिकल वैन मौके पुहंच चुकी है। 
हालांकि, हादसे में अभी तक किसी भी यात्री की जान जाने की खबर नहीं है। बताया जा रहा है कि हादसे में कई यात्रियों को मामूली चोटें आई हैं। फिलहाल मौके पर मेडिकल ट्रेन को रवाना कर दिया गया है। यह हादसा कैसे हुआ इसका पता नहीं चल पाया है ?

लक्ष्मण झूला पुल का एक सपोटिंग तार टूटा, प्रतिबंध

लक्ष्मण झूला पुल का एक सपोटिंग तार टूटा, प्रतिबंध 

पंकज कपूर                
ऋषिकेश। तीर्थनगरी ऋषिकेश में टिहरी और पौड़ी को जोड़ने वाला लक्ष्मण झूला पुल का एक सपोटिंग तार रविवार को अचानक टूट गया। जिससे पुल पर होने वाली आवाजाही पूरी तरह से प्रतिबंधित कर दी गई है।
रविवार को लक्ष्मण झूला की तार टूटने से तत्काल प्रभाव से पुल पर आवाजाही पूरी तरह रोक दी गई है। बताया जा रहा है कि यहां बजरंग सेतु नये पुल का निर्माण कार्य चल रहा है। 
जिसके लिए कंपनी की ओर से भारी भरकम मशीनें मौके पर काम कर रही हैं। मिट्टी उठाने वाली करीब हजारों किलो वजनी बकेट से टकराकर पुल का संतुलन बनाने वाली तार रविवार की दोपहर टूट गई। जिससे पुल का संतुलन बिगड़ गया। संभावित खतरे को देखते हुए अब लोगों की आवाजाही पर भी रोक लगा दी गई है। पुल के बंद होने से लक्ष्मण झूला और तपोवन के बीच पैदल संपर्क समाप्त हो गया है।
गौरतलब है कि लक्ष्मण झूला पुल को शासन ने 13 जुलाई 2019 को बंद कर दिया था। स्थानीय नागरिकों की समस्या को देखते हुए इस पर सिर्फ पैदल चलने की आवाजाही की छूट दी गई थी। पास ही नए पुल के निर्माण के आदेश दिए गए थे। पुल के निर्माण के लिए चंडीगढ़ की कंपनी को काम दिया गया था।

यूके: 24 घंटे में कोरोना के 7 नए मामलें मिलें

यूके: 24 घंटे में कोरोना के 7 नए मामलें मिलें    


पंकज कपूर            

देहरादून। उत्तराखंड में वैश्विक महामारी कोविड-19 संक्रमण का प्रकोप अब तेजी के साथ घटने लगा है। राज्य में कोरोना वायरस मामलों में निरंतर कमी आ रही है।पिछले 24 घंटे के दौरान प्रदेश के केवल दो जनपदों हरिद्वार और देहरादून में कोरोना वायरस के कुल 07 नये मामलें सामने आए है। रविवार को उत्तराखंड स्टेट कंट्रोल रूम देहरादून द्वारा जारी हेल्थ बुलेटिन के अनुसार, राज्य में पिछले 24 घंटे के दौरान कोरोना के कुल 07 नए मामलें सामने आए है। जबकि राज्य में 11 मरीज स्वस्थ होकर डिस्चार्ज हुए। वही, दैनिक पॉजिटिविटी रेट की बात करें तो 0.52 फ़ीसदी पर पहुंच गई है।

जनपदवार आंकड़ों पर नजर डालें तो देहरादून जिले से 03 ,हरिद्वार से 04, नैनीताल जिले से 0, उधमसिंह नगर से 0, पौडी से 0, टिहरी से 0, चंपावत से 0, पिथौरागढ़ से 0, अल्मोड़ा 0, बागेश्वर से 0 , चमोली से 0, रुद्रप्रयाग से 0, उत्तरकाशी से 0 सैंपल पॉजिटिव मिले हैं। जारी आंकड़ों के मुताबिक राज्य में 1 जनवरी 2022 से अब तक कोरोना से संक्रमित कुल 92178 मरीजों में से 88505 मरीज ठीक होकर अस्पताल से डिस्चार्ज हो चुके हैं, 3212 संक्रमित राज्य से बाहर जा चुके, हैं , 274 संक्रमित की मौत हो चुकी है। राज्य में वर्तमान में कोविड-19 के एक्टिव केस 187 है। इधर, रिकवरी रेट 96.02 प्रतिशत पहुंच गया है।

सहयोगियों के बीच विभागों का बंटवारा किया: सीएम

सहयोगियों के बीच विभागों का बंटवारा किया: सीएम  

इकबाल अंसारी           
पणजी। गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत ने रविवार को अपने सहयोगियों के बीच विभागों का बंटवारा किया। अधिसूचना के अनुसार गृह , वित्त , निजी सुरक्षा और आधिकारिक भाषा संबंधी विभाग अपने पास रखे । विश्वजीत राणे को स्वास्थ्य, शहरी विकास, टाउन एंड कंट्री प्लानिंग और महिला एवं बच्चे और जंगल साथ ही ,मोविन गौडिंहो को परिवहन उद्योग, पंचायत और प्रोटोकॉल विभाग दिया गया जबकि रवि नायक को कृषि, हस्तशिल्प और नागरिक उड्डयन विभाग दिये गये हैं।
नीलेश काबराल को विधायिका मामले, पर्यावरण, कानून और न्यायिक तथा लोक निर्माण विभाग दिये गये। सुभाष शिरोडकर को जल संंसाधन विभाग , सहकारिता एवं जन सहयोग विभाग दिया गया है। रोहन खाउंटे को पर्यटन, आईटी और प्रिंटिंग एवं स्टेशनरी जबकि गोविंउ गाउडे को खेल, कला एवं संस्कृति तथा ग्रामीण विकास प्राधिकरण दिया गया है। राजस्व,श्रम एवं अपशिष्ट प्रबंधन एटानेसियो मोसिरेट को दिया गया है। अधिसूचना में कहा गया कि जिन विभागों का फैसला नहीं हुआ है उन्हें बाद में मुख्यमंत्री द्वारा देखा जायेगा।

खैरागढ़ विधानसभा उपचुनाव, फ्लैग मार्च निकाला

खैरागढ़ विधानसभा उपचुनाव, फ्लैग मार्च निकाला     

दुष्यंत टीकम          
राजनांदगांव। पुलिस अधीक्षक राजनांदगांव संतोष सिंह के निर्देशन में आगामी खैरागढ़ विधानसभा उपचुनाव सुरक्षित एवं शांतिपूर्ण संपन्न कराने हेतु जिला पुलिस बल एवं पैरामिलेट्री फोर्स की संयुक्त टीम के साथ थाना गंडई क्षेत्र में फ्लैग मार्च निकाला गया। साथ ही साथ कॉबिंग गश्त, एरिया डॉमिनेशन, रोड पेट्रोलिंग एवं स्थैतिक चेक पोस्ट लगाकर वाहनों की चेकिंग भी कर रही है। जिससे चुनाव के दौरान आसामाजिक तत्वों द्वारा गड़बड़ी फैलाने हेतु हथियार, अवैध रूपये, अवैध शराब व नशीले पदार्थ आदि विधानसभा क्षेत्र में ना ला सके। 
जिससे उक्त चुनाव निष्पक्ष एवं सुरक्षित तरीके से सम्पन्न किया जा सके। फ्लैग मार्च के दौरान पुलिस अधिकारियों द्वारा लोगों से अपील भी किया जा रहा है कि मतदान के समय किसी प्रकार की अशांति फैलाने या असंवैधानिक कृत्य करने का प्रयास न करें, यदि कोई अप्रिय स्थित घटित होने की संभावना हो तो तत्काल पुलिस को सूचित करें संबंधित आरोपियों के खिलाफ दंडात्मक कार्यावाही की जाएगी। मतदान दिवस के दिन अपने मतदान के अधिकार का प्रयोग अवश्य करें।

भाजपा प्रत्याशी के समर्थन में बैठक, अपील की

भाजपा प्रत्याशी के समर्थन में बैठक, अपील की    



संदीप मिश्र 

महाराजगंज। विधानसभा परिषद चुनाव के लिए हो रहे चुनाव में भारतीय जनता पार्टी प्रत्याशी दिनेश प्रताप सिंह के समर्थन में नगर पंचायत में सभी सभासदों का समर्थन जुटाने के लिए पूर्व जिला पंचायत सदस्य एवं वरिष्ठ भाजपा नेता तथा महराजगंज की चेयरमैन सरला साहू के पति और प्रतिनिधि प्रभात साहू ने एक बैठक की। सभी सभासदों से पार्टी प्रत्याशी के पक्ष में मतदान करने की अपील की।

आपको बता दें कि, अपने प्रतिष्ठान पर आयोजित बैठक में भाजपा अवध क्षेत्र के मंत्री दिलीप यादव एवं पार्टी के जिला प्रवक्ता की मौजूदगी में श्री साहू ने कहा कि, प्रदेश की योगी सरकार को विधान परिषद में और सशक्त बनाने के लिए भाजपा प्रत्याशी का भारी मतों से जितना आवश्यक है। इसके लिए सभी सभासदों को अपना अपना मत पार्टी प्रत्याशी के पक्ष में दिया जाना आवश्यक है। उन्होंने मौजूद सभी सभासदों से संकल्प लिया कि, वह पार्टी प्रत्याशी के पक्ष में ही मतदान करेंगे तथा अन्य मतदाताओं को भी प्रेरित करेंगे।

इस मौके पर सभासद गण श्याम लाल साहू, सतीश कुशमेश रवितोष त्रिपाठी, विजय धीमान, सूर्य प्रकाश वर्मा समेत सभी सभासद मौजूद रहे। 

मस्जिदों के लाउडस्पीकरों की तेज आवाज, ऐतराज

मस्जिदों के लाउडस्पीकरों की तेज आवाज, ऐतराज  

कविता गर्ग        
मुंबई। बीजेपी के बाद अब महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना की ओर से मस्जिदों के लाउडस्पीकरों की तेज आवाज पर ऐतराज जताया गया है। मनसे प्रमुख राज ठाकरे ने मस्जिदों के लाउडस्पीकर बंद किए जाने की ये मांग शनिवार को एक रैली के दौरान की। ठाकरे ने यहां शिवाजी पार्क में एक रैली में कहा, मस्जिदों में लाउडस्पीकर इतनी तेज आवाज में क्यों बजाए जाते हैं। अगर इसे नहीं रोका गया तो मस्जिदों के बाहर स्पीकर पर अधिक तेज आवाज में हनुमान चालीसा बजाया जाएगा। उन्होंने कहा, मैं प्रार्थना या किसी विशेष धर्म के खिलाफ नहीं हूं।
महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे पर निशाना साधते हुए राज ठाकरे ने कहा कि सीएम ने चुनावों के दौरान जिन ताकतों का विरोध किया था, उन्हीं के साथ गठबंधन कर सरकार चला रहे हैं। राज ठाकरे ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देवेंद्र फडणवीस को हमेशा मुख्यमंत्री के रूप में पेश किया था और उद्धव ने कभी एक शब्द नहीं कहा। महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के परिणाम घोषित होने के बाद ही उन्हें मुख्यमंत्री बनने और विपक्षी दलों के साथ गठबंधन करने का विचार आया।
राज ठाकरे ने राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) पर भी हमला किया। राज ठाकरे ने राकांपा पर गठन के बाद से ही राज्य में जाति आधारित नफरत फैलाने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा, "आज लोग राज्य में जाति के मुद्दों पर लड़ रहे हैं। हम कब इससे बाहर निकलेंगे और हिंदू बनेंगे।
ठाकरे ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुंबई के मुस्लिम इलाकों में मस्जिदों पर छापा मारने की अपील की। राज ठाकरे ने कहा, 'मैं पीएम मोदी से मुस्लिम झुग्गियों में मदरसों पर छापा मारने की अपील करता हूं। पाकिस्तानी समर्थक इन झोंपड़ियों में रह रहे हैं। मुंबई पुलिस जानती है कि वहां क्या हो रहा है, हमारे विधायक वोट-बैंक के लिए उनका इस्तेमाल कर रहे हैं, ऐसे लोगों के पास आधार कार्ड भी नहीं है, लेकिन विधायक उनके आधार कार्ड बनवा रहे हैं।

जल्द ही अपने घरों को लौट सकेंगे 'कश्मीरी' पंडित

जल्द ही अपने घरों को लौट सकेंगे 'कश्मीरी' पंडित   

इकबाल अंसारी                  
श्रीनगर। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के प्रमुख मोहन भागवत ने रविवार को कहा कि कश्मीरी पंडित जल्द ही घाटी में अपने घरों को लौट सकेंगे। उन्होंने जोर दिया कि अनुकूल माहौल बनाने के लिए काम किया जा रहा है, ताकि वे फिर कभी विस्थापित न हों। भागवत ने ‘द कश्मीर फाइल्स’ फिल्म की प्रशंसा करते हुए कहा कि इसने 1990 में घाटी से कश्मीरी पंडितों के पलायन के पीछे की वास्तविकता के बारे में देश भर में और बाहर जन-जागरूकता पैदा की है।
तीन दिवसीय ‘नवरेह’ उत्सव के अंतिम दिन कश्मीरी पंडित समुदाय के सदस्यों को डिजिटल तरीके से संबोधित करते हुए आरएसएस प्रमुख ने कहा कि कश्मीर घाटी में उनके घर को लौटने के संकल्प को पूरा करने का समय आ गया है। भागवत ने अपने आधे घंटे से अधिक के भाषण में कहा कि घाटी में लौटने के हमारे संकल्प को पूरा होने में ज्यादा दिन नहीं लगेंगे। यह बहुत जल्द साकार हो जाएगा और हमें इस दिशा में प्रयास जारी रखना होगा। हमारा इतिहास और हमारे महान नेता हम सभी के लिए मार्गदर्शक रहेंगे और प्रेरणा देंगे।
वर्ष 2011 में दिल्ली में कश्मीरी पंडितों के उत्सव ‘हेराथ’ (शिवरात्रि) में अपनी भागीदारी का उल्लेख करते हुए भागवत ने कहा कि समुदाय ने इस अवसर पर प्रतिज्ञा की थी कि वे अपनी मातृभमि पर लौटेंगे। आरएसएस प्रमुख ने कहा कि हर किसी के जीवन में चुनौतियां आती हैं…हम ऐसी स्थिति में हैं जहां तीन-चार दशक पहले हम अपने ही देश में विस्थापित हुए थे। समाधान क्या है। साथ ही, उन्होंने कहा कि हार नहीं मानेंगे और अपने घरों को लौटकर अपनी प्रतिज्ञा को पूरा होते देखेंगे।
उन्होंने इजराइल का जिक्र किया और कहा कि यहूदियों ने अपनी मातृभूमि के लिए 1800 वर्षों तक संघर्ष किया। 
आगे कहा कि 1700 वर्षों में उनके द्वारा अपनी प्रतिज्ञा के लिए बहुत कुछ नहीं किया गया था, लेकिन पिछले 100 वर्षों में इजराइल के इतिहास ने इसे अपने लक्ष्य को प्राप्त करते हुए देखा और दुनिया के अग्रणी देशों में से एक बन गया।

प्रेस वार्ता, गोयल ने भारतीय अर्थव्यवस्था पर बात की

प्रेस वार्ता, गोयल ने भारतीय अर्थव्यवस्था पर बात की   

अकांशु उपाध्याय            
नई दिल्ली। केंद्रीय वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल ने रविवार को एक प्रेस वार्ता में भारत की अर्थव्यवस्था पर बात की और इस दौरान हाल ही में आई फिल्म आरआरआर का जिक्र भी किया। गोयल ने कहा, ‘मुझे पता चला है कि आरआरआर फिल्म शायद इस देश की सबसे बड़ी फिल्म बन गई है और 750 करोड़ रुपये से अधिक की कमाई कर चुकी है। इसी तरह, मुझे लगता है कि भारत की अर्थव्यवस्था भी एक के बाद एक रिकॉर्ड तोड़ रही है।’ पीयूष गोयल वित्त वर्ष 2021-22 के लिए निर्यात का आंकड़ा 418 अरब डॉलर पर पहुंचने को लेकर बोल रहे थे।

बीती 23 मार्च को देश ने 400 अरब डॉलर के निर्यात के आंकड़े को पार कर लिया था। भारत ने सबसे ज्यादा निर्यात अमेरिका को किया है। इसके बाद संयुक्त अरब अमीरात (यूएई), चीन, बांग्लादेश और नीदरलैंड रहे। निर्यात का आंकड़ा 400 अरब डॉलर से ऊपर पहुंचने को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक बहुत बड़ी उपलब्धि बताया था। उन्होंने कहा था कि यह आत्मनिर्भर भारत बनने की दिशा में एक अहम मील का पत्थर है। बता दें कि कोरोना वायरस महामारी का असर शांत होने के बाद अर्थव्यवस्था में तेज सुधार देखने को मिला है।

मुंबई: अभिनेता टाइगर ने स्टंट वीडियो शेयर किया

मुंबई: अभिनेता टाइगर ने स्टंट वीडियो शेयर किया   

कविता गर्ग          

मुंबई। बॉलीवुड के अभिनेता टाइगर श्राफ ने सोशल मीडिया पर हैरतअंगेज, स्टंट वीडियो शेयर किया है।टाइगर श्रॉफ अपनी फिटनेस और डांस मूव्स को लेकर काफी चर्चा में रहते हैं। टाइगर ने अपने सोशल मीडिया हैंडल पर एक वर्कआउट के दौरान का एक वीडियो शेयर किया है, जिसमें वह शानदार किक मारते हुए दिख रहे हैं।

टाइगर ने इस वीडियो को अपने आधिकारिक इंस्टाग्राम पर शेयर किया है। वीडियो में देखा जा सकता है कि टाइगर बैक-टू-बैक कई ताइक्वांडो किक मारते हुए दिख रहे हैं। इस वर्कआउट वीडियो को इंस्टाग्राम पर शेयर कर टाइगर ने लिखा, "यदि किसी का दिन खराब है और उसे मानव पंचिंग बैग की जरूरत है। तो मेरे भाई नदीम से संपर्क करें। टाइगर श्राफ इन दिनों अपनी आने वाली फिल्म हीरोपंती 2 को लेकर काफी चर्चा में हैं। इस फिल्म में उनके साथ तारा सुतारिया और नवाजउद्दीन सिद्दिकी की भी अहम भूमिका है। अहमद खान के निर्देशन में बनी इस फिल्म का निर्माण साजिद नाडियाडवाला फिल्म्स के बैनर तले किया गया है। यह फिल्म 29 अप्रैल, 2022 को ईद के मौके पर रिलीज होगी।

उपराष्ट्रपति नायडू ने राज्यसभा दिवस की बधाई दी

उपराष्ट्रपति नायडू ने राज्यसभा दिवस की बधाई दी 

अकांशु उपाध्याय         
नई दिल्ली। उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने रविवार को राज्यसभा दिवस की बधाई दी और कहा कि उच्च सदन ने संसदीय लोकतंत्र को मजबूत बनाने में अहम भूमिका निभाई है। राज्यसभा के सभापति नायडू ने सदस्यों से लोगों के कल्याण को ध्यान में रखते हुए जानकारीपरक एवं रचनात्मक बहस में हिस्सा लेने की अपील भी की।
उपराष्ट्रपति सचिवालय ने नायडू के हवाले से ट्वीट किया, “राज्यसभा दिवस की बधाई! अपनी स्थापना के समय से ही राज्यसभा ने संसदीय लोकतंत्र को मजबूत बनाने में अहम भूमिका निभाई है।” उन्होंने कहा कि, मैं राज्य सभा के सदस्यों से लोगों के कल्याण को ध्यान में रखते हुए जानकारीपरक एवं रचनात्मक बहस में शामिल होने की अपील करना चाहता हूं।
राज्यसभा की वेबसाइट के मुताबिक, संविधान सभा जिसकी पहली बैठक नौ दिसंबर 1946 को हुई थी, उसने 1950 तक केंद्रीय विधानमंडल की भी भूमिका अदा की थी, जब उसे अंतरिम संसद में तब्दील कर दिया गया था। 1952 में पहला संसदीय चुनाव होने तक केंद्रीय विधानमंडल एक सदन वाली संस्था थी। स्वतंत्र भारत में एक दूसरे सदन की जरूरत को लेकर संविधान सभा में व्यापक बहस हुई।
आखिरकार आजाद भारत के लिए एक द्विसदनीय विधायिका बनाने का निर्णय लिया गया, क्योंकि विविधताओं से भरे एक विशाल देश में संघीय प्रणाली को सरकार का सबसे व्यवहार्य रूप माना जाता था। लिहाजा, ‘राज्यों की परिषद’ नाम से एक दूसरे सदन की स्थापना की गई, जिसकी संरचना और चुनाव की प्रक्रिया लोगों द्वारा सीधे चुने गए पहले सदन से अलग थी। यह एक संघीय सदन था, जिसके सदस्य राज्यों और दो केंद्र-शासित प्रदेशों की विधानसभाओं के निर्वाचित सदस्यों द्वारा चुने जाते थे।
इसमें राज्यों को समान प्रतिनिधित्व नहीं दिया गया था। निर्वाचित सदस्यों के अलावा राष्ट्रपति द्वारा सदन में 12 सदस्यों को मनोनीत करने का प्रावधान भी किया गया था। सदन के सभापति ने 23 अगस्त 1954 को इसका नाम ‘राज्यसभा’ रखने की घोषणा की थी।

कंपनियों ने पेट्रील-डीजल की कीमतों में इजाफा किया

कंपनियों ने पेट्रील-डीजल की कीमतों में इजाफा किया  

अकांशु उपाध्याय          
नई दिल्ली। देशभर में पेट्रोल-डीजल की कीमतें एक बार फिर लगातार बढ़ने लगी हैं। 13 दिनों ये 11वीं बार है, जब राज्य संचालित ईंधन कंपनियों ने पेट्रील-डीजल की कीमतों में इजाफा किया है। रविवार सुबह ईंधन के दाम 80 पैसा/लीटर बढ़ाए गए हैं। जिसके बाद राजधानी दिल्ली में एक लीटर पेट्रोल 103.41 रुपये का हो गया है, वहीं डीजल के दाम 94.67 रुपये प्रति/लीटर तक पहुंच गए हैं। 
बता दें कि 22 मार्च से अबतक पेट्रोल की कीमतों में 8 रुपये की बढ़ोतरी की जा चुकी है। मुंबई की बात करें तो यहां 84 पैसा बढ़कर पेट्रोल का दाम 118.41 रुपये/लीटर हो गया है, वहीं डीजल की कीमत 85 पैसा बढ़कर 102.64 रुपये/लीटर हो गई है।
आपके शहर में पेट्रोल और डीजल के क्या दाम हैं इसकी जानकारी आप एक SMS के जरिए भी पा सकते हैं। इसके लिए इंडियन ऑयल के ग्राहकों को RSP कोड लिखकर 9224992249 नंबर पर भेजना होगा. कोड आपको इंडियन ऑयल की वेबसाइट पर मिलेगा।
उल्लेखनीय है कि शुक्रवार शाम ही IGL ने ऐलान किया है कि घरेलू गैल यानी PNG के दामों में भी बढ़ोतरी की गई है। IGL ने बताया कि पाइप से रसोई तक पहुंचने वाले PNG की कीमतें 5.85 रुपये प्रति एससीएम बढ़ाई गई हैं। ये बढ़ी कीमतें 1 अप्रैल 2022 से लागू हो गई हैं। इस तेजी के बाद अब दिल्ली NCR में पीएनजी की कीमतें 41.71/SCM हो गई है।

कांग्रेसियों ने केंद्र सरकार के पुतले का दहन किया

कांग्रेसियों ने केंद्र सरकार के पुतले का दहन किया   

पंकज कपूर              
गदरपुर। विधानसभा चुनाव के पश्चात बेतहाशा बढ़ रही महंगाई के विरोध में कांग्रेस नगर अध्यक्ष सिद्धार्थ भुसरी, कांग्रेस ब्लॉक अध्यक्ष नासिर हुसैन की। अध्यक्षता एवं कांग्रेस प्रत्याशी रहे प्रेमानंद महाजन के नेतृत्व में महंगाई के खिलाफ जोरदार नारेबाजी करते हुए कांग्रेसियों ने केंद्र सरकार के पुतले का दहन किया। 
इस दौरान कांग्रेस नगर अध्यक्ष सिद्धार्थ भुसरी व कांग्रेस ब्लॉक अध्यक्ष नासिर हुसैन ने कहा प्रदेश की जनता ने भारतीय जनता पार्टी को एक मौका ओर दिया कि भाजपा सरकार महंगाई पर अंकुश लगाते हुए आम जनमानस को राहत देने का काम करेगी परंतु प्रदेश एवं केंद्र की सरकार लगातार बेतहाशा महंगाई बढ़ती चली जा रही है जिसको लेकर आम जनमानस का बुरा हाल है। 
आज प्रदेश की जनता रोजगार के बिना अपने घर की एक वक्त की रोटी के लिए भी संघर्ष करता नजर आ रहा है, परंतु बेतहाशा महंगाई के चलते आम जन मजबूर हो चुका है। 
कांग्रेस प्रत्याशी रहेे प्रेमानंद महाजन ने भी केंद्र की मोदी सरकार को कोसते हुए कहा कि रविवार को रसोई गैस, पेट्रोल, डीजल सहित खाद्य पदार्थ भी इतने महंगे कर दिए हैं कि दिनचर्या से दो वक्त की रोटी कमाने वाला व्यक्ति आज अपने बच्चों को पौष्टिक भोजन ना देने पर मजबूर है।
खाद्य तेलों के दाम की बात की जाए या ईंधन की तो गैस सिलेंडर भी हजार के पार हो चुका है जिस पर ना ही प्रदेश सरकार की नजर है और ना ही केंद्र सरकार की। 
 महंगाई खत्म करने को लेकर केंद्र सरकार को काम करने की जरूरत है जिस से प्रदेश व देश वासियों को राहत मिल सके। इस मौके पर कांग्रेस वरिष्ठ कांग्रेसी नेता अनिल सिंह, विराट शर्मा, संजीव झाम, ऋषभ कम्बोज, प्रशांत सिंह, सुमित सिंह, सत्यम सिंह, अकील, बृजेश चैधरी सहित दर्जनों लोग मौजूद रहे।

16 से घटाकर 13 उड़ान प्रति सप्ताह करेगी इंडिया

16 से घटाकर 13 उड़ान प्रति सप्ताह करेगी इंडिया  

सुनील श्रीवास्तव          
नई दिल्ली/कोलंबो। एअर इंडिया ने रविवार को कहा कि वह मांग में कमी के चलते नौ अप्रैल से भारत-श्रीलंका के बीच अपनी उड़ानों की संख्या मौजूदा 16 से घटा कर 13 उड़ान प्रति सप्ताह करेगी। श्रीलंका अपने इतिहास के सबसे बड़े आर्थिक संकट का सामना कर रहा है। कम आपूर्ति के चलते ईंधन, रसोई गैस और जरूरी सामान के लिए लंबी कतारें लगी हैं। घंटों बिजली गुल रहती है और आम लोग हफ्तों से ऐसे हालात का सामना कर रहे हैं।
एअर इंडिया के एक प्रवक्ता ने कहा कि फिलहाल, एअर इंडिया हर हफ्ते 16 उड़ानों का संचालन कर रही है। इनमें दिल्ली से रोजाना एक उड़ान का संचालन किया जा रहा है जबकि चेन्नई से हफ्ते में नौ उड़ानें संचालित की जा रही हैं।
प्रवक्ता ने कहा कि नए कार्यक्रम के तहत एअर इंडिया हर सप्ताह 13 उड़ानों का संचालन करेगी। प्रवक्ता ने कहा कि चेन्नई से उड़ानों की संख्या में कोई कमी नहीं की जाएगी, जबकि दिल्ली से उड़ानों की तादाद प्रति सप्ताह सात से घटाकर चार की जाएगी। प्रवक्ता ने कहा, ”मांग में कमी के चलते नौ अप्रैल से दिल्ली से उड़ानों की संख्या सात से घटाकर चार की जाएगी।

योगी सरकार से अवैध घर को ध्वस्त करने का निवेदन

योगी सरकार से अवैध घर को ध्वस्त करने का निवेदन   

संदीप मिश्र              
रामपुर। उत्तर प्रदेश में लगातार दूसरी बार मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की सरकार बन चुकी है। जिसके बाद योगी सरकार ने अवैध निर्माण पर ताबड़तोड़ कार्रवाई करते हुए ‘बुलडोजर’ चलवाए हैं। इसी बीच खबर सामने आ रही है कि रामपुर जिले में एक 40 वर्षीय व्यक्ति ने योगी सरकार से अपने अवैध घर को ध्वस्त करने का निवेदन किया है। 
आपको बता दें कि रामपुर जिले के 40 वर्षीय व्यक्ति का घर सूखे तालाब और कब्रिस्तान पर बनाया गया है। शुरुआती जांच में एहसान मियां नामक व्यक्ति का दावा सही साबित हुआ है। अंग्रेजी समाचार वेबसाइट ‘टाइम्स ऑफ इंडिया’ की रिपोर्ट के मुताबिक, एहसान मियां ने बताया कि हम दो पीढ़ियों से इस घर में रह रहे हैं। मैंने हाल ही में पाया कि वक्फ और सरकार की संपत्ति पर घर अवैध रूप से बनाया गया था। 
उन्होंने कहा कि मैंने घर को ध्वस्त करने के लिए अर्जी दाखिल करने का फैसला किया और एसडीएम अशोक चौधरी से इसे ध्वस्त करने की अपील की। इस पर एसडीएम चौधरी का भी बयान सामने आया है। उन्होंने कहा कि रामपुर जिले की तहसील शाहाबाद के अंतर्गत मित्रपुर एहरोला गांव में कई घर सूखे तालाबों और कब्रिस्तानों पर बने हैं।

भाजपा विरोधी मोर्चे का नेतृत्व नहीं करेंगे पंवार

भाजपा विरोधी मोर्चे का नेतृत्व नहीं करेंगे पंवार   

कविता गर्ग          
पुणे। राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के अध्यक्ष शरद पंवार ने रविवार को कहा कि वह भारतीय जनता पार्टी विरोधी मोर्चे का नेतृत्व नहीं करेंगे और वह संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) का अध्यक्ष बनने के भी इच्छुक नहीं हैं। पश्चिमी महाराष्ट्र के कोल्हापुर में पत्रकारों से बातचीत में पवार ने यह भी कहा कि केंद्र में भाजपा का विकल्प पेश करने के मकसद वाली किसी भी पहल से कांग्रेस को बाहर नहीं रखा जा सकता है। उन्होंने कहा, ‘‘मैं भाजपा के खिलाफ विभिन्न दलों वाले किसी भी मोर्चे की अगुवाई करने की कोई जिम्मेदारी नहीं उठाने जा रहा।’’ साथ ही उन्होंने कहा कि वह संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन की अगुवाई भी नहीं करेंगे। उन्होंने कहा, ‘‘हाल में हमारी पार्टी (राकांपा) के कुछ युवा कार्यकर्ताओं ने मुझे संप्रग का अध्यक्ष बनने के लिए कहते हुए एक प्रस्ताव पारित किया, लेकिन मैं उस पद का इच्छुक नहीं हूं।
पंवार ने कहा कि अगर भाजपा का विकल्प पेश करने की कोशिश की जाती है तो मैं उसमें सहयोग के लिए तैयार हूं। उन्होंने कहा, ‘‘हम यह करते रहे हैं। जब यह कहा जाता है कि विपक्ष को एक साथ आना चाहिए तो कुछ तथ्यों को नजरअंदाज नहीं किया जाना चाहिए। ममता बनर्जी की तृणमूल कांग्रेस पश्चिम बंगाल में सबसे मजबूत पार्टी है और उनके पास जनता का समर्थन है। उसी तरह क्षेत्रीय दल भी अपने-अपने राज्यों में मजबूत हैं।’’ पूर्व केंद्रीय मंत्री ने कहा कि कांग्रेस बेशक अभी सत्ता में न हो लेकिन उसकी देशभर में मौजूदगी है। उन्होंने कहा, ‘‘आप हर गांव, जिले और राज्य में कांग्रेस के कार्यकर्ता पाएंगे। सच्चाई यह है कि विकल्प पेश करते हुए कांग्रेस को शामिल करना जरूरी है।
भाजपा नेता नितिन गडकरी के कांग्रेस को मजबूत होने की आवश्यकता बताने वाले बयान पर पवार ने कहा कि एक स्वस्थ लोकतंत्र के लिए मजबूत विपक्षी दल की आवश्यकता होती है। उन्होंने कहा, ‘‘अगर केवल एक पार्टी ही मजबूत होती है तो यह रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन जैसा हो जाएगा। उन्होंने और चीन के राष्ट्रपति ने जीवित रहने तक अपने देशों का नेतृत्व करने का संकल्प लिया है। मैं उम्मीद करता हूं कि भारत के पास ऐसा पुतिन नहीं होना चाहिए।’’ पंवार ने कहा कि देश में महंगाई एक प्रमुख मुद्दा है। उन्होंने कहा कि भाजपा के शासन में हर दूसरे दिन ईंधन की कीमतें बढ़ायी जा रही हैं, जो न केवल आम लोगों के खर्चों पर असर डाल रही है बल्कि कीमतें बढ़ने और परिवहन की लागत बढ़ाने में भी योगदान दे रही है।
फिल्म इस तरह से बनायी गयी है कि अन्य धर्मों के लोग आक्रोशित होंगे। उन्होंने दोहराया कि घाटी से कश्मीरी पंडितों के निर्वासन के दौरान केंद्र में वीपी सिंह की सरकार थी न कि कांग्रेस की। उन्होंने कहा कि फिल्म तथ्यों पर आधारित नहीं है बल्कि इससे नस्लवाद और नफरत बढ़ेगी। उन्होंने कहा कि गुजरात में हालात (2002 में गोधरा साम्प्रदायिक दंगों के बाद) घाटी से बदतर थे। स्वाभिमानी शेतकरी पक्ष (एसएसपी) के बारे में पंवार ने कहा कि किसी भी पार्टी को महा विकास अघाडी से अलग नहीं होना चाहिए। उन्होंने कहा, ‘‘अगर उन्हें (एसएसपी) कोई गलतफहमी है तो उनकी शंकाएं दूर करना हमारी जिम्मेदारी है।

पेट्रोल-डीजल की कीमत, गहरी नाराजगी व्यक्त की

पेट्रोल-डीजल की कीमत, गहरी नाराजगी व्यक्त की   

इकबाल अंसारी           
बेंगलुरु। कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री व जनतादल (एस) के नेता एचडी कुमारस्वामी ने पेट्रोल और डीजल की कीमतों पर चुप रहने वाली भारतीय जनता पार्टी, राज्य सरकार और मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई के खिलाफ गहरी नाराजगी व्यक्त की है। पूर्व मुख्यमंत्री, जिन्होंने रविवार सुबह ट्वीट की एक श्रृंखला की। उन्होंने कहा कि, भाजपा ने चुप्पी के सामने आत्मसमर्पण कर दिया है। 
भाजपा के सत्तारूढ़ भाषण के तहत भारत चमक रहा है‌। उन्होंने कहा कि,13वें दिन से कीमतों में लगातार बढ़ोतरी। दोनों तेलों की कीमतों में वृद्धि। बेंगलुरु में पेट्रोल की कीमत 108.99 रुपये प्रति लीटर (रविवार की बढ़ोतरी: 88 पैसे) बढ़कर 92.83 रुपये प्रति लीटर हो गई। जैसे ही स्टॉक इंडेक्स ट्रेजरी में गिरता है, प्राइस इंडेक्स का मंदी सूचकांक भी ढह जाता है।
उन्होंने कहा कि जब मैं 2018 में सीएम था, तो भाजपा नेता 1.12 पैसे प्रति लीटर पेट्रोल और 1.14 पैसे प्रति लीटर डीजल की कीमत में बढ़ोतरी से परेशान थे। उनका पेट जल गया क्योंकि कीमतों में बढ़ोतरी का यह पैसा किसानों के पास नहीं जा रहा था। उन्होंंने कहा कि सड़क पर खाली सिलेंडर ले जा रही भाजपा ने क्यों सरेंडर कर दिया है। महंगाई की वजह से अगर गरीबों का पेट जल जाए तो क्या आप खुश हैं। आओ, सड़कों पर उतरो और केंद्र सरकार के खिलाफ विरोध करो और चिल्लाओ।
उन्होंने कहा कि सीमेंट, लोहा और भोजन सहित आम आदमी द्वारा उपयोग की जाने वाली हर वस्तु की कीमत में लगातार उछाल आ रहा है। श्रीमना का घर बनाने का सपना महज एक सपना है। उसकी जेब खाली है, कुछ लोगों की जेब भर रही है। भाजपा में बिजनेसमैन बन रहे हैं दुनिया के सबसे अमीर लोग। पूर्व सीएम और पूर्व मुख्यमंत्री डीवी सदानंद गौड़ा ने कीमतों में वृद्धि के लिए पिछली यूपीए सरकार को जिम्मेदार ठहराया। आठ साल बाद भी यूपीए ने अपनी गलती नहीं सुधारी, क्यों? रसोई में माताओं, अगर आप आग में पके हुए हैं तो आप राजनीतिक रूप से महत्वपूर्ण हैं।

'व्यक्तिगत' कारण से दिल्ली नहीं गए थे सीएम

'व्यक्तिगत' कारण से दिल्ली नहीं गए थे सीएम     

इकबाल अंसारी                 

चेन्नई। तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एम के स्टालिन ने विपक्षी अन्नाद्रमुक के आरोपों का खंडन करते हुए रविवार को कहा कि वह राज्य के अधिकारों को सुरक्षित करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिलने दिल्ली गए थे। स्टालिन ने कहा कि वह केवल राज्य का बकाया हासिल करने के लिए दिल्ली गए थे, न कि किसी व्यक्तिगत कारण से।

उन्होंने कहा कि, कुछ लोगों ने आरोप लगाया है कि मैं डर के कारण कुछ समस्याओं से खुद को बचाने के लिए वहां (दिल्ली) गया था। एक बात बहुत स्पष्ट कर दूं। मैं वहां जाकर कोई एहसान मांगने के लिए किसी के पैरों पर नहीं गिर गया। मैं दिल्ली गया, प्रधानमंत्री से मिला और हमारे राज्य के मुद्दों को सामने रखा, संबंधित मंत्रियों से मुलाकात की और ज्ञापन प्रस्तुत किया और हमारे राज्य के अधिकारों के लिए आवाज उठाई। उन्होंने विपक्षी अन्नाद्रमुक द्वारा की गई टिप्पणी के जवाब में कहा कि, कुछ लोग जो इसे पचा नहीं पा रहे हैं, वे ऐसे आरोप लगा रहे हैं।

धर्म-जाति के नाम पर ध्रुवीकरण, जगह-जगह तनाव

धर्म-जाति के नाम पर ध्रुवीकरण, जगह-जगह तनाव   

नरेश राघानी          
बाड़मेर। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने देश में करौली, जैसी घटनाओं के लिए राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) की नीतियों को जिम्मेदार ठहराते हुए कहा है कि धर्म और जाति के नाम पर ध्रुवीकरण होने से देश में जगह-जगह तनाव हो रहा है। गहलोत ने आज यहां मीडिया से बातचीत में यह बात कही।
उन्होंने कहा कि राजग सरकार आने के बाद देश में तनाव का माहौल बन गया है। प्रधानमंत्री को अपील करनी चाहिए कि जाति और धर्म के नाम पर जगह जगह ध्रुवीकरण हो रहा है। वह उचित नहीं है और देश हित में नहीं हैं। उन्होंने कहा कि इसी कारण देश में जगह जगह तनाव हो रहा है और दुर्भाग्य से करौली की घटना सामने है। उन्होंने कहा कि छोटी सी बात को लेकर झगड़ा होने पर उस विवाद को भी जाति-धर्म से जोड़कर मुद्दा बना लिया जाता है।
सात ही कहा कि मेरा मानना है कि जिस प्रदेश में शांति भाईचारा, सद्भाव रहता है, वहीं विकास का माहौल बनता है। आज महंगाई, बेरोजगारी बड़ी चुनौतियां हैं, युवाओं में छटपटाहट है। मुख्यमंत्री ने कहा कि करौली में जिस तरह की घटना हुई है, उन्होंने सुबह ही पुलिस। महानिदेशक से बात की है और उनसे कहा है कि जिन्होंने भी यह हरकत की है। इसके पीछे कौन ताकतें थीं उनके खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई होनी चाहिए। चाहे वे कोई कौम और धर्म के लोग हों,उन्हें यह संदेश जाना चाहिए कि राजस्थान में कानून का शासन है। वह कायम रहेगा।
सीएम गहलोत ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यानाथ को भी आड़े हाथों लेते हुए कहा कि केवल पर्सेप्शन पैदा करके राजनीति करते हैं। जैसे अभी चुनाव पर किया गया। वहां पर बुलडोजर ही चुनाव चिह्न ही बना लिया गया। उन्होंने कहा कि फेक एनकाउंटर हुए। उसे ही इस रूप में बता दिया गया जैसे वहां के मुख्यमंत्री ने बहुत बड़ा एक्शन लिया हो। फेक एनकाउंटर करना बहुत आसान है, लेकिन कानून का शासन होगा तभी देश चलेगा और न्याय मिलेगा। उन्होंने कहा कि फेक एनकाउंटर में तो निर्दोष लोग भी मर सकते हैं। कानून का शासन स्थपित रहेगा तभी देश चलेगा।

'कलावा' बांधने की परंपरा, जानिए कारण

'कलावा' बांधने की परंपरा, जानिए कारण   

सरस्वती उपाध्याय           
क्या आप जानते हैं कि ये कलावा आखिर है क्या और इसे बांधे जाने के पीछे क्या कारण हैं ? चलिए, हम आपको बताते हैं कि कलावा क्यों बांधा जाता है और इसे बांधने के पीछे क्या मान्यता है‌।
आपने कई पूजा-अनुष्ठानों के बाद अक्सर श्रद्धालुओं को हाथ पर एक रंगीन सूत्र बांधे देखा होगा। वही, सूत्र जिसे ‘कलावा’ कहा जाता है। मंदिरों में भी दर्शन के बाद हाथ में कलावा बांधने की परंपरा हमेशा से रही है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि ये कलावा आखिर है क्या और इसे बांधे जाने के पीछे क्या कारण हैं। चलिए आज हम आपको बताते हैं कि कलावा क्यों बांधा जाता है और इसे बांधने के पीछे क्या मान्यता है। 
चाहे घर में कोई पूजा या कथा का आयोजन हो या फिर किसी मंदिर में देव-दर्शन के लिए गये हों, किसी भी शुभ धार्मिक  कार्य के बाद हाथों में कलावा बांधने की परंपरा बेहद पुरानी है। ये कलावा रंगीन, लाल, पीला या किसी अन्य रंग का हो सकता है। माना जाता है कि पूजा-अर्चना के बाद विधिवत बांधे गए कलावे में कई प्रकार की सकारात्मक ऊर्जा या दैवीय शक्तियां होती हैं। हाथ में कलावा बांधने से ये सकारात्मक ऊर्जा निगेटिव एनर्जी और बुरी नजर से हमारी रक्षा करती हैं। इसीलिए कलावा को रक्षा सूत्र भी कहा जाता है। कई लोगों की मान्यता ये भी है कि अलग-अलग रंग के कलावा बांधने का संबंध अलग-अलग ग्रहों से होता है। मसलन पीले रंग का कलावा बांधने से बृहस्पति, लाल रंग से मंगल और काले कलावे से शनि ग्रह मजबूत होते हैं।

पूरे क्षेत्र में बारूदी सुरंगें छोड़ गए रूसी सैनिक

पूरे क्षेत्र में बारूदी सुरंगें छोड़ गए रूसी सैनिक    

सुनील श्रीवास्तव          
कीव/मॉस्को। रूस और यूक्रेन के बीच जंग जारी है। यूक्रेन की सेना ने रूसी सैनिकों को पीछे हटने पर मजबूर कर दिया है। इसी बीच यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमीर जेलेंस्की ने लोगों को आगाह किया कि राजधानी से पीछे हट रहे रूसी सैनिकों ने उसके बाहरी इलाकों में एक बड़ी आपदा पैदा कर दी है। वे पूरे क्षेत्र में बारूदी सुरंगें छोड़ गए हैं, यहां तक कि घरों और लाशों के आसपास भी वे बारूदी सुरंगें छोड़ गए हैं।
जेलेंस्की ने राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में कहा कि रूसी सैनिक पूरे क्षेत्र में बारूदी सुरंगें बिछा रहे हैं। वे घरों के आसपास बारूदी सुरंगें छोड़ रहे हैं। यहां तक कि युद्ध में मारे गए लोगों की लाशों को भी नहीं बख्श रहे हैं। उन्होंने क्षेत्र के लोगों से तब तक सामान्य जीवन में न लौटने की अपील की, जब तक यह सुनिश्चित नहीं कर लिया जाता कि बारूदी सुरंगें हटा दी गई हैं और गोलाबारी का खतरा टल गया है।
राष्ट्रपति जेलेंस्की ने यह चेतावनी ऐसे समय में जारी की है कि जब रूसी सेना द्वारा निकासी कार्यों को लगातार दूसरे दिन बाधित करने से बंदरगाह शहर। मारियुपोल में मानवीय संकट गहरा गया है और क्रेमलिन ने यूक्रेन पर रूसी धरती पर स्थित एक ईंधन डिपो पर हेलीकॉप्टर से हमला करने का आरोप लगाया है। 
हालांकि, यूक्रेन  ने इस हमले की जिम्मेदारी लेने से इनकार कर दिया है, लेकिन अगर रूसी दावों की पुष्टि होती है तो यह युद्ध में पहला ऐसा हमला होगा, जिसमें किसी यूक्रेनी विमान ने रूसी हवाई क्षेत्र में घुसपैठ की है। क्रेमलिन के प्रवक्ता दमित्री पेस्कोव ने कहा कि निश्चित रूप से यह एक ऐसी कार्रवाई नहीं है, जिसे दोनों पक्षों के बीच वार्ता जारी रखने के माकूल माना जा सकता है।
रूस सैनिकों को बुला रहा वापस।
वहीं, रूस ने कीव (Kyiv) के आसपास के क्षेत्रों से अपने कुछ सैनिकों को वापस बुलाना जारी रखा है। दरअसल, मॉस्को ने सप्ताह की शुरुआत में कहा था कि वह यूक्रेन की राजधानी और उत्तरी शहर चेर्निहाइव के पास सैन्य गतिविधियों में कमी लाएगा।

स्नातक आयुर्वेद शिक्षा के न्यूनतम मानक तय किए

स्नातक आयुर्वेद शिक्षा के न्यूनतम मानक तय किए 

अकांशु उपाध्याय              
नई दिल्ली। आयुर्वेद चिकित्सा में स्नातक डिग्री पाठ्यक्रम के छात्रों को अब क्वांटम मैकेनिक्स, सामान्य सर्जरी, योग और जीवनशैली प्रबंधन, जैसे विषय पढ़ाये जाएंगे। साथ ही, छात्रों को रोबोटिक्स और कृत्रिम बुद्धिमता के उपयोग की बुनियादी जानकारी भी दी जायेगी। भारतीय चिकित्सा पद्धति राष्ट्रीय आयोग (एनसीआईएसएम) के अध्यक्ष डा. जयंत यशवंत देवपुजारी ने बताया, आयोग ने हाल में अधिसूचना जारी कर स्नातक आयुर्वेद शिक्षा के न्यूनतम मानक तय किए हैं। इसके तहत आयुर्वेदिक औषधि एवं सर्जरी में स्नातक कोर्स का खाका तैयार किया गया है।
उन्होंने बताया कि आयुर्वेद चिकित्सा में स्नातक डिग्री कोर्स के तहत प्रथम व्यावसायिक पाठ्यक्रम बीएएमएस में पदार्थ विज्ञान विषय में क्वांटम मैकेनिक्स को शामिल किया गया है। क्वांटम मैकेनिक्स भौतिकी का उपखंड है। इस विषय को आयुर्वेद में शामिल किये जाने के बारे में पूछे जाने पर देवपुजारी ने कहा कि, पदार्थ विज्ञान के तहत क्वांटम मैकेनिक्स शामिल किया गया है। इसका प्रैक्टिकल उपयोग है, यह दर्शन नहीं है। आयुर्वेद में सैकड़ों वर्षों से इसका उल्लेख है। ऐसे में इस पर किसी को आपत्ति नहीं होनी चाहिए।
एनसीआईएसएम के अध्यक्ष ने कहा कि आयोग भारतीय पारंपरिक चिकित्सा पद्धति में वैज्ञानिक एवं प्रौद्योगिकी विकास का ढांचा तैयार करना चाहती है और इस उद्देश्य के लिये एक ‘‘बहुविषयक समिति’’ का गठन किया जायेगा। उन्होंने कहा कि यह समिति जीव विज्ञान, रसायन विज्ञान, भौतिकी, गणित, माइक्रो बायोलॉजी, मॉलिक्यूलर बायोलॉजी, बायो इंफार्मेटिक्स जैसे विषयों में नवाचार एवं नये घटनाक्रमों पर विचार विमर्श करेगी।
देवपुजारी ने कहा कि समिति रोग पहचान एवं जांच के तरीकों, सर्जरी की तकनीक, शिक्षण एवं प्रशिक्षण उपायों, अनुसंधान एवं उपकरणों के मानदंड, साफ्टवेयर, उपचार प्रौद्योगिकी जैसे उभरते क्षेत्र पर विभिन्न पक्षकारों के साथ विचार विमर्श करेगी और इनमें सुधार के उपाए सुझायेगी। आयोग के दस्तावेज के अनुसार, आयुर्वेद में बीएएमएस पाठ्यक्रम में तीन सेमेस्टर होंगे, जो 18-18 महीने के होंगे तथा अनिवार्य इंटर्नशिप 12 महीने का होगा।
 बीएएमएस पाठ्यक्रम में मुख्य कोर्स और ऐच्छिक पाठ्यक्रम शामिल होंगे। छात्रों को अन्य विषयों के साथ-साथ आयुर्वेद के लिए संस्कृत की बुनियादी शिक्षा और बुनियादी जीवन सहायता एवं प्राथमिक चिकित्सा की शिक्षा भी दी जाएगी। इसमें कहा गया है कि पाठ्यक्रम में पदार्थ विज्ञान विषय के तहत आयुर्वेद के बुनियादी सिद्धांत और क्वांटम मैकेनिक्स पढ़ाया जाएगा। इसके अलावा, जीवन शैली प्रबंधन, प्रसूति विज्ञान एवं स्त्री रोग विज्ञान जैसे विषय पढ़ाए जाएंगे।
पाठ्यक्रम में छात्रों को सामान्य सर्जरी की जानकारी भी दी जाएगी। इंदौर में फिजियोलॉजी संकाय के एसोसिएट प्रोफेसर डॉ. मनोहर भंडारी ने स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री मनसुख मांडविया, आयुष मंत्री सर्वानंद सोनोवाल, प्रधानमंत्री कार्यालय में राज्य मंत्री जितेन्द्र सिंह को पत्र लिखकर भारतीय भाषाओं में चिकित्सा शिक्षा का नूतन पाठ्यक्रम तैयार करने का सुझाव दिया था।

300 यूनिट तक मुफ्त बिजली का सपना अधूरा

300 यूनिट तक मुफ्त बिजली का सपना अधूरा    

अमित शर्मा         
चंडीगढ़। चुनाव प्रचार के दौरान भगवंत मान और आम आदमी पार्टी AAP के चीफ अरविंद केजरीवाल ने पंजाब की जनता को तमाम सुनहरे सपने दिखाए थे। इनमें से 300 यूनिट तक मुफ्त बिजली का सपना पूरा नहीं कर सके हैं। अब पंजाब के लोगों को एक और झटका देने का फैसला सीएम भगवंत मान की सरकार करने जा रही है।
ये झटका बस के किराए में बढ़ोतरी की शक्ल में है। डीजल के रेट बढ़ने की वजह से पंजाब रोड ट्रांसपोर्ट कॉर्पोरेशन यानी PRTC ने बसों के किराए में बढ़ोतरी का प्रस्ताव सरकार को भेजा है और जल्दी ही इस पर मुहर लगने वाली है।
पीआरटीसी के प्रस्ताव में कहा गया है कि हाल के दिनों में डीजल की कीमत में इजाफा हुआ है। ऐसे में पुराने किराए पर यात्रियों को ले जाना फायदे की जगह नुकसान का सबब बन रहा है। सरकार ऐसे में बस के किराए में प्रति किलोमीटर 10 पैसे की बढ़ोतरी करे।
 पीआरटीसी की बसों में हर रोज 80000 लीटर डीजल की खपत होती है। हर रोज इतना डीजल डलवाने में करीब 72000 रुपया खर्च हो रहा है। इसके अलावा स्टाफ की सैलरी, पेंशन, डीए की किस्त देने में भी मुश्किल हो रही है।
छठे वेतन आयोग की सिफारिशें लागू होने से ये खर्च और बढ़ गया है। उन्होंने बताया कि फिलहाल पीआरटीसी के पास 1200 बसों का बेड़ा है। फिलहाल प्रति किलोमीटर 1.22 रुपए ही यात्रियों से लिए जाते हैं। अगर प्रस्ताव पास हो जाता है, तो किराया बढ़कर 1.35 रुपए प्रति किलोमीटर हो जाएगा। इससे हर दिन 10 लाख तक की आय बढ़ जाएगी।

अनियंत्रित ट्रक ने स्कूटी को मारीं टक्कर, 2 की मौंत

अनियंत्रित ट्रक ने स्कूटी को मारीं टक्कर, 2 की मौंत 

संदीप मिश्र 
बुलंदशहर। जनपद के थाना राजघाट इलाके में अनियंत्रित ट्रक ने स्कूटी को टक्कर मार दी, जिसमें दो लोगों की मौके पर ही मौत हो गई और एक व्यक्ति गंभीर रूप से घायल हो गया। जिसका उपचार चल रहा है।
मिली जानकारी के अनुसार थाना ढोलना के गांव रहमतपुर के निवासी भगवान अपनी पत्नी प्रेमवती सहित तीन साल के नाथी योगेश उर्फ योगी ेक साथ किसी प्रोग्राम में इलाके के एक गांव में अपने रिश्तेदार के यहां पर जा रहे थे। 
इसी दौरान सिलाहरी गांव के बीच ही अनियंत्रित ट्रक ने स्कूटी को जोरदार टक्कर मार दी। ट्रक के पहिये की चपेट में आने से प्रेमवती और नाथी योगेश की मौके पर ही मौत हो गई ओर भगवान सिह गंभीर रूप से घायल हो गया। सूचना पाकर पहुंची पुलिस ने आनन-फानन में भगवान सिंह को हॉस्पिटल में उपचार हेतु एडमिट कराया। पुलिस ने ट्रक चालक को अपनी गिरफ्त में ले लिया है।

फेरबदल, संसद में पेश किया गया प्रस्ताव खारिज

फेरबदल, संसद में पेश किया गया प्रस्ताव खारिज   

अखिलेश पांडेय          
नई दिल्ली/इस्लामाबाद। पड़ोसी देश पाकिस्तान में चल रही सियासी उठा-पटक के बीच अचानक से हुए फेरबदल के अंतर्गत संसद में पेश किया गया प्रस्ताव डिप्टी स्पीकर ने विदेशी ताकतों की साजिश होने का आरोप लगाते हुए खारिज कर दिया हैं। प्रधानमंत्री ने नहले पर दहला मारते हुए संसद को भंग करने की सिफारिश कर विपक्ष को चारों खाने चित कर दिया है।
पड़ोसी देश पाकिस्तान में चल रही सियासी उठापटक के बीच रविवार को तेजी के साथ घटे घटना चक्र के बीच विपक्ष की ओर से संसद में पेश किए गए अविश्वास प्रस्ताव को डिप्टी स्पीकर ने विदेशी साजिश बताते हुए खारिज कर दिया हैं। अनुच्छेद पांच के अंतर्गत खारिज किए गए विपक्ष के अविश्वास प्रस्ताव के बाद संसद को आगामी 25 अप्रैल तक के लिए डिप्टी स्पीकर ने स्थगित कर दिया।
अविश्वास प्रस्ताव के डिप्टी स्पीकर द्वारा खारिज करने और सांसद को 25 अप्रैल तक के लिए स्थगित कर दिए जाने के ऐलान के बाद प्रधानमंत्री इमरान खान ने असेंबली को बंद करने की सिफारिश कर डाली। संसद के भीतर अपने उद्बोधन में प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा है कि जनता का विश्वास जीतने के लिए हम पब्लिक के बीच जाएंगे। इंसाफ के लिए अवाम के बीच जाने की सिफारिश करते हुए प्रधानमंत्री इमरान खान ने देश की जनता से चुनाव की तैयारियों में जुटने की अपील की।
संसद भंग करने की सिफारिश के बाद देश के विपक्षी दलों ने प्रधानमंत्री इमरान खान के खिलाफ मोर्चा खोलते हुए पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी के अध्यक्ष बिलावल भुट्टो ने कहा कि प्रधानमंत्री इमरान खान ने देश के संविधान को तोड़ा है। हम इसके खिलाफ सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाएंगे।

लश्कर-ए-तैयबा के आतंकवादी मॉड्यूल का भंडाफोड़

लश्कर-ए-तैयबा के आतंकवादी मॉड्यूल का भंडाफोड़   

इकबाल अंसारी          
श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर पुलिस ने रविवार को उत्तरी कश्मीर में दो अलग-अलग स्थानों पर छापा मारकर लश्कर-ए-तैयबा (लश्कर ) के आतंकवादी मॉड्यूल का भंडाफोड़ करने और हथियार बरामद करने का दावा किया। पुलिस ने कहा कि प्रतिबंधित लश्कर के संगठन के आतंकवादियों के पांच सहयोगियों को गिरफ्तार किया गया है। वहीं उत्तरी कश्मीर के बांदीपोरा तथा हाजिन में छापेमारी के दौरान उनके कब्जे से तीन हथगोले और अन्य आपत्तिजनक सामग्री बरामद की गई हैं।
पुलिस ने कहा कि, बांदीपोरा में आतंकवादी मॉड्यूल का भंडाफोड़, लश्कर के आतंकवादियों के पांच सहयोगियों को गिरफ्तार किया गया। उनके कब्जे से तीन हथगोले और अन्य आपत्तिजनक सामग्री बरामद की गई। इस संबंध में बांदीपोरा और हाजिन थाने में प्राथमिकी दर्ज की गयी। आगे की जांच की जारी है।

पेट्रोल कार के रजिस्ट्रेशन का नवीनीकरण, इनकार

पेट्रोल कार के रजिस्ट्रेशन का नवीनीकरण, इनकार

अकांशु उपाध्याय             

नई दिल्ली। दिल्ली-एनसीआर में 15 साल से अधिक पुरानी पेट्रोल कार के रजिस्ट्रेशन के नवीनीकरण को लेकर दिल्ली हाईकोर्ट ने अनुमति देने से इनकार कर दिया है। सुप्रीम कोर्ट और राष्ट्रीय हरित अधिकरण (NGT) द्वारा पारित आदेशों के मद्देनजर अदालत ने ऐसे वाहन के पंजीकरण के नवीनीकरण की अनुमति से इनकार किया।

न्यायमूर्ति संजीव सचदेवा ने कहा कि दिल्ली सरकार की नीति के मुताबिक, याचिकाकर्ता द्वारा वाहन के ऐसे स्थानों में हस्तांतरण के लिए अनापत्ति प्रमाणपत्र (NOC) प्राप्त किया जा सकता है। जिन्हें लेकर एनजीटी और उच्चतम न्यायालय के आदेशों के तहत अनुमति प्रदान की गई है। अदालत ने कहा कि एनजीटी और उच्चतम न्यायालय द्वारा पारित आदेशों के मद्देनजर याचिकाकर्ता दिल्ली-एनसीआर में चलने के उद्देश्य से 15 साल पूरे होने के बाद पेट्रोल वाहन के पंजीकरण के नवीनीकरण की मांग नहीं कर सकता है।

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण     

1. अंक-177, (वर्ष-05)
2. सोमवार, अप्रैल 4, 2022
3. शक-1984, चैत्र, शुक्ल-पक्ष, तिथि-तीज, विक्रमी सवंत-2078।      
4. सूर्योदय प्रातः 07:04, सूर्यास्त: 06:24।
5. न्‍यूनतम तापमान- 23 डी.सै., अधिकतम-38+ डी सै.। उत्तर भारत में बरसात की संभावना।
6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है।
7.स्वामी, मुद्रक, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम व शिवांशु, (विशेष संपादक) श्रीराम व सरस्वती (सहायक संपादक) के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी।
8. संपर्क व व्यवसायिक कार्यालय- चैंबर नं. 27, प्रथम तल, रामेश्वर पार्क, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102।
9.पंजीकृत कार्यालयः 263, सरस्वती विहार लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102
http://www.universalexpress.page/
www.universalexpress.in
email:universalexpress.editor@gmail.com
संपर्क सूत्र :- +919350302745 
           (सर्वाधिकार सुरक्षित) 

एससी ने सभी महिलाओं को 'गर्भपात' का हक दिया 

एससी ने सभी महिलाओं को 'गर्भपात' का हक दिया  अकांशु उपाध्याय  नई दिल्ली। गुरुवार को देश की सबसे बड़ी अदालत सुप्रीम कोर्...