सोमवार, 6 जून 2022

सीरियल बम ब्लास्ट केस, वलीउल्लाह को फांसी की सजा

सीरियल बम ब्लास्ट केस, वलीउल्लाह को फांसी की सजा

अश्वनी उपाध्याय/हरिओम उपाध्याय
गाजियाबाद/वाराणसी। 16 साल बाद वाराणसी में हुए सीरियल बम ब्लास्ट केस में गाजियाबाद जिला एवं सत्र अदालत ने दोषी वलीउल्लाह को फांसी की सजा सुनाई है। इस मामले में आतंकी वलीउल्लाह उर्फ टुंडा पहले ही दोषी करार दिया जा चुका है। वलीउल्लाह उर्फ टुंडा इस समय डासना जेल में बंद है। वलीउल्लाह के खिलाफ 6 मुकदमे चल रहे थे। जिनमें से 4 में उसे दोषी करार दिया गया है। वाराणसी सीरियल ब्लास्ट मामलें में 5 जून को सेशन कोर्ट में हुई। सुनवाई के बाद दोषी वली उल्लाह को 2 मामलों में दोषी ठहराया था, जिसका फैसला न्यायालय ने सोमवार को सुनाया। कोर्ट ने उनमें से एक मामले में आजीवन कारावास तो वहीं दूसरे मामले में दोषी वलीउल्लाह को फांसी की सजा सुनाई गई।

16 साल बाद मिला इंसाफ...
16 साल पहले 7 मार्च 2006 को वाराणसी में संकटमोचन मंदिर और कैंट स्‍टेशन पर धमाके हुए थे। सीरियल ब्‍लास्‍ट में 18 लोगो की मौत हो गई थी। एक अन्य आरोपी को मार गिराया गया था। वहीं शनिवार को वलीउल्‍लाह को दोषी करार दिया गया था। कोर्ट ने सोमवार को वाराणसी सीरियल ब्लास्ट के दोषी वलीउल्‍लाह उर्फ टुंडा को फांसी की सजा सुनाई है।

इन मुकदमों में सुनाई गई सजा...
वाराणसी सीरियल ब्लास्ट केस का फैसला जिला जज जितेंद्र कुमार सिन्हा ने सुनाया है। आईपीसी 302, 324, 307, 326 आईपीसी 3/4 /5 विस्फोटक पदार्थ अधिनियम 15-16 दूसरे मुकदमे में 3/4/5 विस्फोटक पदार्थ अधिनियम इन धाराओं पर केस चलाए गए हैं।

पेश हुए 67 गवाह, 302 में हुई फांसी...
दशमेध मंदिर जहां विस्फोटक पदार्थ एक काले बेग में बरामद किया गया था। वहीं अलग अलग मसमलो 30 हजार ओर 20 हजार तक जुर्माना ओर आईपीसी 302 मे फांसी की सजा सुनाई गई। इसमें अन्य आरोपी पत्रावली को इलाहाबाद हाईकोर्ट ने भेजा जा रहा है। संकट मोचन मामले में कुल 47 गवाह और 3 बचाव साक्ष्य पेश किये गए थे। दशमेध घाट वाले केस में 20 गवाह और 3 बचाव साक्ष्य पेश किए गए।

बम धमाकों में 18 लोगों की हुई थी मौत...
7 मार्च 2006 को वाराणसी के संकट मोचन मंदिर और कैंट रेलवे स्टेशन पर सीरियल ब्लास्ट हुए थे। इस घटना में 18 लोगों की मौत हो गई थी, जबकि 35 से ज्यादा लोग घायल हुए थे। उसी शाम को दशाश्वमेध घाट पर भी विस्फोटक मिले थे। पुलिस ने 5 अप्रैल 2006 को इस मामले में इलाहाबाद के फूलपुर गांव निवासी वली उल्लाह को लखनऊ के गोसाईंगंज इलाके से गिरफ्तार किया था।

मुकदमा लड़ने से वाराणसी के वकीलों ने मना कर दिया था...
वलीउल्लाह पर संकट मोचन मंदिर और वाराणसी कैंट रेलवे स्टेशन पर विस्फोट की साजिश रचने व आतंकवाद फैलाने का आरोप है। वलीउल्लाह का मुकदमा लड़ने से वाराणसी के वकीलों ने मना कर दिया था। इसके बाद हाई कोर्ट ने यह केस गाजियाबाद जिला जज के न्यायालय में ट्रांसफर कर दिया था। तभी से केस की सुनवाई गाजियाबाद स्थित जिला जज की कोर्ट में चल रही है।

एंजेलो की 171वीं जयंती पर डूडल बनाकर याद किया

एंजेलो की 171वीं जयंती पर डूडल बनाकर याद किया 

अखिलेश पांडेय
नई दिल्ली/वाशिंगटन डीसी/रोम। सर्च दिग्गज गूगल ने एस्प्रेसो मशीनों के गॉडफादर के रूप में लोकप्रिय आविष्कारक एंजेलो मोरियोनडो की 171वीं जयंती पर एक विशेष एनिमेटेड डूडल बनाकर उन्हें याद किया है। 6 जून का गूगल डूडल इटालियन आविष्कारक को श्रद्धांजलि देने के लिए बनाया गया है‌। जिन्होंने वर्ष 1884 में एस्प्रेसो मशीन का आविष्कार और पेटेंट कराकर कॉफी प्रेमियों के लिए जीवन को आसान बना दिया। यह डूडल सबसे पहले ज्ञात एस्प्रेसो मशीन का कार्टून जैसा प्रतिनिधित्व दर्शाता है। जब कोई गूगल पर सर्च करेगा, तो उसे कॉफी मशीन के चित्र दिखाई देंगे जो दिखा रहा है कि कॉफी कैसे बनाई और परोसी जाती है।
आविष्कार से पहले, ग्राहकों को कॉफ़ी बनाने की प्रक्रियाओं के कारण अपने पेय के लिए पांच मिनट से अधिक समय तक इंतजार करना पड़ता था। चूंकि, कॉफी पहले उन्नीसवीं सदी के इटली में सबसे लोकप्रिय पेय थी, इस आविष्कार ने बहुत समय बचाया है। यह देखा जा सकता है कि मशीन से कपों में कॉफी डाली जा रही है। इसके अलावा, जब आप डूडल पर क्लिक करेंगे, तो वह एक वेब पेज पर ले जाएगा। जहां कोई भी आविष्कारक एंजेलो मोरियोनडो के बारे में सभी संबंधित जानकारी प्राप्त कर सकता है।
मोरियोनडो का जन्म 6 जून, 1851 को इटली के ट्यूरिन में, व्यवसायियों के एक परिवार में हुआ था, जो हमेशा नए आइडियाज और बिजनेस का इजात करते थे। उनके दादा ने एक शराब निर्माण व्यवसाय की स्थापना की। जिसे एंजेलो के पिता को सौंप दिया गया, जिन्होंने अपने भाई और चचेरे भाई के साथ प्रसिद्ध चॉकलेट फर्म "मोरियोंडो और गैरीग्लियो" का निर्माण किया।
अपने परिवार की विरासत को आगे बढ़ाते हुए, मोरियोनडो ने दो स्थान खरीदे, सिटी सेंटर पियाज़ा कार्लो फेलिस में ग्रैंड-होटल लिगुर और वाया रोमा के गैलेरिया नाज़ियोनेल में अमेरिकन बार इटली में कॉफी की लोकप्रियता के बावजूद, कॉफ़ी का इंतजार खरीदारों के लिए असुविधाजनक होने लगा, जिसके बाद मोरियोनडो को आइडिया आया कि एक बार में कई कप कॉफी बनाने से वह अधिक ग्राहकों को तेज दर पर सेवा दे सकेगा, जिससे उसे प्रतिस्पर्धात्मक लाभ मिलेगा।मोरियोनडो ने 1884 में ट्यूरिन के जनरल एक्सपो में अपनी एस्प्रेसो मशीन की शुरुआत की। जहां उसे एक मैकेनिक की बारीकी से देखरेख करने के बाद कांस्य पदक मिला, उसने इसे बनाने के लिए लोगों को काम पर रखा। उपकरण में एक विशाल बॉयलर था जो कॉफी पीस के बेड के माध्यम से गर्म पानी को फ़ोर्स करता था, साथ ही दूसरा बॉयलर जो कॉफी को बेड पर फ्लैश करने और ब्रू खत्म करने के लिए स्टीम उत्पन्न करता था।

प्राची ने शर्मा व जिंदल का समर्थन कर, बयान दिया

प्राची ने शर्मा व जिंदल का समर्थन कर, बयान दिया

भानु प्रताप उपाध्याय 
मुजफ्फरनगर। विवादित बयान देने के मामलें में भारतीय जनता पार्टी से निलंबित की गई प्रवक्ता नूपुर शर्मा और नवीन जिंदल का मामला गर्माता जा रहा है। देशभर में कट्टर हिन्दू विचार-धारा के लोग नूपुर शर्मा के पक्ष में खड़े नजर आ रहे हैं। सोमवार को मुजफ्फरनगर पहुंची साध्वी प्राची ने भी नूपुर शर्मा और नवीन जिंदल का समर्थन करते हुए बड़ा बयान दिया है। साध्वी ने कहा कि मुझे बड़ी हंसी आती है कि सच बोलने पर भी सजा मिलती है। नूपुर शर्मा को भी वहीं सजा मिल रही है। लेकिन, याद रखना सच परेशान हो सकता है, मगर पराजित कभी नहीं होता।
हरिद्वार जाते समय कुछ देर के लिए उत्तर प्रदेश के जनपद मुज़फ्फरनगर में स्थित शिव चौक पर रुकी हिंदूवादी नेत्री साध्वी प्राची ने मीडिया से बातचीक कर रही थी। उन्होंने कहा कि सच बोलने की सजा लोगों को मिल चुकी है। नूपुर शर्मा को भी वहीं मिल रही है, लेकिन याद रखना सच परेशान तो हो सकता है, पराजित नहीं हो सकता‌। आज हर सनातनी नूपुर शर्मा के साथ है मैं भी नूपुर शर्मा और भाई नवीन जिंदल के साथ हूं। साध्वी प्राची ने कहा कि हिम्मत हो तो जरा ओवैसी को गिरफ्तार करके दिखाओ। ओवैसी फूल नहीं बरसा रहा है। उन्होंने कहा कि बरेली का तौकीर रजा 10 जून को क्या कहा उसने खुलेआम 100 करोड़ को धमकी दी है। अभी जलसा हुआ था देवबंद के अंदर मदनी को जरा गिरफ्तार करो कह रहे हैं जो हमारे धर्म को स्वीकार करते हैं वह हिंदुस्तान में रहे।
कानपुर का ही नहीं जहां दंगा होता है वहां पीएफआई का आईएसआई का हाथ होता है। मैं योगी सरकार से कहना चाहती हूं कि जुमे की नमाज के बाद जब मौलवियों का भाषण होता है तो उसकी वीडियो रिकॉर्डिंग कराई जाए और जहां पर दंगे होते हैं।वहां के मदरसे और मस्जिद को तुरंत प्रतिबंधित कर दिया जाए, फिर कहीं दंगा नहीं होगा। अल्लाह भी खुश होगा और पूरा मोहल्ला भी खुश होगा।

'परीक्षा 2022' का आयोजन, 12 जून को होगा

'परीक्षा 2022' का आयोजन, 12 जून को होगा 

हरिओम उपाध्याय/सत्येंद्र पंवार   
लखनऊ/मेरठ। उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग प्रयागराज की ओर से सम्मिलित राज्य/प्रवर अधीनस्थ सेवा परीक्षा 2022 का आयोजन (रविवार) 12 जून को होगा। परीक्षा मेरठ सहित प्रदेश के 28 जिलों में आयोजित कराई जा रही है। मेरठ में आयोग की परीक्षा के लिए 37 परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं। जिले में कुल 17,323 परीक्षार्थी पंजीकृत हैं, जो दोनों पालियों में परीक्षा देंगे। दोनों पालियों में सामान्य अध्ययन की परीक्षा होगी।

30 मिनट पहले होगी एंट्री...
परीक्षा केंद्रों पर दो महिला व दो पुरुष पुलिस कर्मी अभ्यर्थियों की तलाशी करेंगे। केन्द्रों के भीतर अभ्यर्थियों का प्रवेश 30 मिनट पहले शुरू होगा। इसलिए सभी अभ्यर्थी समय से पहले ही केंद्रों पर पहुंच जाएं। वहीं परीक्षा शुरू होने से 10 मिनट पहले प्रवेश बंद कर दिया जाएगा। इसके बाद किसी परीक्षार्थी को प्रवेश की अनुमति नहीं मिलेगी। इसलिए जरूरी यह है कि अभ्यर्थी समय का विशेष ध्यान रखें। परीक्षा कक्ष में अभ्यर्थियों को अपने साथ किसी भी प्रकार के इलेक्ट्रॉनिक उपकरण केलकुलेटर, स्लाइड रूल, मोबाइल फोन, इलेक्ट्रॉनिक घड़ी आदि के साथ सादा कागज, कॉपी, किताब, नोट, पत्रिका खाद्य सामग्री, गुटका आदि ले जाने की अनुमति नहीं है। जो भी सामान परीक्षार्थी लाएंगे उन्हें बाहर ही रखना पड़ेगा।

सीसीटीवी की निगरानी में होगी परीक्षा...
लोक सेवा आयोग की परीक्षा केंद्र पर सीसीटीवी की निगरानी में होगी। जिन परीक्षा केंद्रों पर हर कक्ष में सीसीटीवी कैमरे नहीं लगे होंगे, वहां हर कक्ष की वीडियो रिकॉर्डिंग पूरी परीक्षा की करानी होगी। केंद्रों से सीसीटीवी और वीडियो रिकॉर्डिंग एक पेन ड्राइव में आयोग ने मांगा है।
परीक्षार्थियों के प्रवेश पत्र पर स्कैन फोटो लगाए गए हैं। वही फोटो रोललिस्ट में भी भेजी गई है। जिन अभ्यर्थियों की उपस्थिति पत्रक में फोटो नहीं है उन्हें परीक्षा के दिन दो फोटो के साथ प्रवेश पत्र लेकर परीक्षा में पहुंचन है। परीक्षा पार्टी रोललिस्ट के आधार पर ऐसे परीक्षार्थियों को चिन्हित कर उनसे परीक्षा के दिन प्रथम सत्र में फोटो लेकर उसकी जांच पहचान पत्र से करेंगे। फोटो और आईडी प्रूफ न हो तो उनसे शपथ पत्र भरवा कर दिया जाएगा।

इन जिलों में होगी परीक्षा...
लोक सेवा आयोग की परीक्षा प्रदेश के 28 जिलों में हो रही है। इसमें मेरठ के अलावा आगरा, गाजीपुर, ज्योतिबा फुले नगर, महाराजगंज, मैनपुरी, मुजफ्फरनगर, सहारनपुर, शाहजहांपुर, प्रयागराज, आजमगढ़, बरेली, गोरखपुर, अयोध्या, गाजियाबाद, जौनपुर, झांसी, कानपुर नगर, लखनऊ, बाराबंकी, मुरादाबाद, रायबरेली, वाराणसी, सीतापुर, मिर्जापुर, मथुरा, देवरिया और मऊ शामिल है।

ई-रिक्शाओं का प्रतिबंधित क्षेत्र में शुभारंभ किया

ई-रिक्शाओं का प्रतिबंधित क्षेत्र में शुभारंभ किया 

भानु प्रताप उपाध्याय 
मुजफ्फरनगर। शहरी क्षेत्र में प्रतिबंधित क्षेत्र, जहां रिक्शाओं को प्रशासन ने प्रतिबंधित कर दिया था। वहां, आज सोमवार को एसपी ट्रैफिक कुलदीप कुमार ने हरी झंडी दिखाकर प्रतिबंधित क्षेत्र में 30 ई-रिक्शा को चलाने की परमिशन व दिशा-निर्देश दिया। वही, शिव चौक से एसपी ट्रैफिक व व्यापारियों ने हरी झंडी दिखाकर ई-रिक्शाओं को प्रतिबंध क्षेत्र में चलाने का शुभारंभ किया।
इस दौरान मौके पर मौजूद ई रिक्शा चालकों में खुशी का माहौल दिखा उनकी मानें, तो पिछले कई दिनों से एसपी यातायात कुलदीप कुमार सिंह के नेतृत्व में शहर की यातायात व्यवस्था को बेहतर वह सुचारू रूप से चलाने के लिए जनपद मुजफ्फरनगर के हृदय स्थली शिव चौक भगत सिंह रोड और झांसी की रानी रोड मीनाक्षी चौक आदि मुख्य मार्गों पर ई-रिक्शाओ का संचालन प्रतिबंधित था। इस दौरान व्यापारी व यातायात पुलिसकर्मियों के साथ कई बार परीक्षाओं के संचालन को लेकर तीखी बहस भी देखने को मिली थी।
आज जब प्रतिबंधित क्षेत्र से ई-रिक्शा ओं का संचालन किया जा रहा था, तो इस मौके पर व्यापारियों ने प्रशासन का धन्यवाद अदा किया। दरअसल, ई रिक्शाओं से शिव चौक क्षेत्र में अत्यधिक जाम लगने के कारण इस क्षेत्र में ई-रिक्शाओं के संचालन पर जिला प्रशासन ने प्रतिबन्ध लगा दिया था। जिससे आम लोंगो को बड़ी राहत मिली थी। लेकिन व्यापारियों को इससे नुकसान हो रहा था। क्योंकि, उनका मानना था कि ई-रिक्शा इस क्षेत्र में प्रतिबन्ध होने के कारण खरीदार उन तक नही आ पा रहे। जिसके चलते उनको आर्थिक हानी उठानी पड़ रही है। व्यापारियों के जबरदस्त दबाव के चलते बरहाल आज इस प्रतिबंध में छूट देते हुए ट्रेफिक एसपी द्वारा 30 ई-रिक्शाओ को इस क्षेत्र में आने जाने की परमिशन दे दी गयी।

शामली के वैभव का रणजी ट्रॉफी के लिए चयन

शामली के वैभव का रणजी ट्रॉफी के लिए चयन

भानु प्रताप उपाध्याय
शामली। उत्तर प्रदेश के जनपद शामली के गांव सिलावर निवासी 22 वर्षीय वैभव चौधरी पुत्र राजीव का रणजी ट्रॉफी के लिए चयन कर लिया गया है। वैभव चौधरी आज होने वाले कर्नाटक व उत्तर प्रदेश के बीच रणजी टॉफी के लिए उत्तर प्रदेश की तरफ से खेलेंगे। किसान पिता ने वैभव चौधरी का पूरा सहयोग किया। प्रतिभाएं कब कहां जन्म ले लें, यह कहा नहीं जा सकता। इसका ताजा उदाहरण हैं वैभव चौधरी। वैभव चौधरी, शामली जनपद के गांव सिलावर के निवासी हैं। इनके पिता राजीव पेशे से एक साधारण किसान हैं। वैभव चौधरी के सपनों को पूरा करने के लिए उन्होंने बेटे को पूरा सहयोग दिया है।
वैभव शुरू से ही क्रिकेट खेलने में रुचि लेते थे
बता दें कि अभी वैभव चौधरी का चयन रणजी के लिए हुआ है। आज कर्नाटक और यूपी का मैच है, जिसमें यूपी की तरफ से वैभव चौधरी रणजी ट्रॉफी के लिए खेलेंगे। वैभव चौधरी के परिजनों का कहना है कि वैभव का शुरू से ही खेल के प्रति लगाव था और वह अधिकतर क्रिकेट खेलने में रुचि लेते थे। राजीव का सपना भी है कि वह एक दिन, देश के लिए जरूर खेलेगा।
परिजन एक दूसरे को मिठाई खिलाकर बधाई दे रहे हैं। वैभव चौधरी के पिरजन संजीव चौधरी ने कहा कि वैभव ने अपने सपने को पूरा करने के लिए पहली सीढ़ी पर कदम रख दिया है। रणजी टॉफी के लिए वैभव चौधरी का चयन होना न केवल गांव और परिवार के लिए बल्कि पूरे जनपद के लिए हर्ष का विषय है। परिजन एक दूसरे को मिठाई खिलाकर बधाई दे रहे हैं।

बस दुर्घटना में मरने वालों की संख्या-25 हुईं

बस दुर्घटना में मरने वालों की संख्या-25 हुईं

पंकज कपूर
देहरादून। उत्तराखंड के उत्तरकाशी में यमुनोत्री राजमार्ग पर दमटा के पास हुई बस दुर्घटना में मरने वालों की संख्या 25 पहुंच गई है। उत्तराखंड गृह विभाग ने रविवार रात को जानकारी दी।
मध्य प्रदेश गृह विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव राजेश राजौरा के अनुसार, उन्हें उत्तराखंड के गृह विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव से जानकारी मिली, जिसमें 25 लोगों की मौत की पुष्टि हुई। वहीं, हादसे में तीन लोग गंभीर रूप से घायल हो गए, जबकि दो लोगों की तलाश की जा रही है।
बस में पन्ना जिले के 28 तीर्थयात्री, एक ड्राइवर और एक हेल्पर सवार थे। घायलों को दमटा के स्वास्थ्य केंद्र ले जाया गया है, जो दुर्घटनास्थल से करीब तीन किमी दूर है।
मध्य प्रदेश के गृह विभाग ने सभी 28 यात्रियों की सूची भी जारी कर दी है।
उन्होंने कहा कि उत्तराखंड पुलिस, होमगार्ड और पुलिस अधीक्षक और कलेक्टर द्वारा बचाव कार्य जारी है।

गोवा के कई दस्तावेज पुर्तगाल में, वापसी की मांग

गोवा के कई दस्तावेज पुर्तगाल में, वापसी की मांग

इकबाल अंसारी  
पणजी। गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत ने सोमवार को कहा कि गोवा सरकार राज्य के उन सभी ऐतिहासिक दस्तावेजों को वापस पाने के लिए विदेश मंत्रालय से मदद मांगेगी, जो फिलहाल पुर्तगाली सरकार के कब्जे में हैं। सावंत ने दक्षिण गोवा के बैतूल में छत्रपति शिवाजी महाराज के राज्याभिषेक की स्मृति में कहा कि ये दस्तावेज इतिहासकारों और छात्रों को शोध में मदद कर सकते हैं। सावंत ने कहा, "गोवा के कई दस्तावेज अभी भी पुर्तगाल में हैं। गोवा के पुरातत्व विभाग को विदेश मंत्रालय से संपर्क करना चाहिए और गोवा से संबंधित उन सभी दस्तावेजों को वापस लाने का प्रयास करना चाहिए।

उन्होंने कहा, "पुरातत्व मंत्री पुर्तगाल भी जा सकते हैं और गोवा में उन दस्तावेजों को वापस ले सकते हैं। इससे इतिहासकारों को शोध कार्य में मदद मिलेगी।" सावंत ने कहा कि किलों और गोवा के अन्य इतिहास से संबंधित दस्तावेज पुर्तगाल के कब्जे में हैं, जिन्हें शोध उद्देश्यों के लिए वापस लाने और अतीत में हुई सभी घटनाओं की सटीक जानकारी प्राप्त करने की आवश्यकता है।
सावंत ने कहा, "शिवाजी महाराज ने गोवा पर शासन किया। कई लोगों ने इस इतिहास को मिटाने की कोशिश की। पुर्तगालियों ने गोवा के चुनिंदा तालुकों में 450 वर्षों तक गोवा पर शासन किया। उन्होंने कुछ वर्षों तक 8 तालुकों पर शासन किया। यदि हम इतिहास देखें तो हमें पता चलेगा कि पुर्तगालियों ने पूरे गोवा पर शासन नहीं किया था।" उन्होंने कहा कि शिवाजी महाराज की वजह से गोवा की हिंदू संस्कृति बरकरार है। उन्होंने कहा कि छात्र शिवाजी महाराज के समय में मौजूद लोक प्रशासन की प्रणाली को सीख सकते हैं।

झांसा: मेडिकल की छात्रा, हवस की शिकार बनाईं

झांसा: मेडिकल की छात्रा, हवस की शिकार बनाईं
नरेश राघानी
श्रीगंगानगर। राजस्थान के श्रीगंगानगर में एक मेडिकल छात्रा को शादी का झांसा देकर हवस की शिकार बनाए जाने का सनसनीखेज मामला सामने आया है। राजस्थान के श्रीगंगानगर में एक मेडिकल छात्रा को शादी का झांसा देकर हवस का शिकार बनाए जाने का सनसनीखेज मामला सामने आया है। पुलिस सूत्रों के अनुसार, 22-23 वर्षीय महाराष्ट्र मूल की पीड़िता यहां एक शिक्षण संस्था में मेडिकल संबंधी कोर्स के फाइनल ईयर की छात्रा है। पीड़िता ने बताया है कि छह-सात महीने से रूबल संधू नामक युवक उसके पीछे पड़ा हुआ था। मामूली जान पहचान होने पर रूबल ने शादी कर लेने का झांसा देना शुरू कर दिया। अपने माता पिता से भी रूबल ने मिलवाया। वह मोबाइल फोन पर बातचीत तथा चौटिंग करने लगा।
गत 27 अप्रैल की शाम को रूबल उसे हनुमानगढ़ मार्ग पर सीजीआर मॉल के पीछे एक तंग गली के एक मकान में ले गया। रूबल अपने एक दोस्त की पार्टी के बहाने यहां लेकर आया। फिर रात्रि 10.30 बजे उसे जवाहरनगर में गगन पथ पर स्थित एक होटल में ले गया और कमरे में ठहरा दिया। खुद भी रात को वहीं ठहर गया। रूबल ने शादी कर लेने का कह कर उस रात दो बार जबरन शारीरिक संबंध बनाए।

स्वास्थ्य, नोरोवायरस के दो मामलों की पुष्टि हुई

स्वास्थ्य, नोरोवायरस के दो मामलों की पुष्टि हुई

इकबाल अंसारी
तिरुवनंतपुरम। केरल के विझिंजम में नोरोवायरस के दो मामलों की पुष्टि हुई है। राज्य की स्वास्थ्य मंत्री वीना जॉर्ज ने कहा कि चिंता की कोई जरूरत नहीं है। स्वास्थ्य विभाग ने स्थिति का आकलन किया है। क्षेत्र से नमूने लेकर परीक्षण किए गए हैं और इससे निपटने की कार्रवाई तेज कर दी गई है। दोनों बच्चों की हालत स्थिर है। स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि फिलहाल चिंता करने की कोई जरूरत नहीं है। लेकिन, सभी को सावधान रहना चाहिए और स्वच्छता बनाए रखना चाहिए।
केरल के अलाप्पुझा जिले के कायमकुलम में एक सरकारी उच्च प्राथमिक विद्यालय के आठ छात्रों को फूड पॉइजनिंग के एक संदिग्ध मामले के कारण बेचैनी की शिकायत के बाद शनिवार को एक अस्पताल में भर्ती कराया गया था। जिसके बाद दो बच्चों में संक्रमण का पता चला था। पीटीआई की रिपोर्ट के अनुसार, एक सरकारी प्रयोगशाला में छात्रों के नमूनों का परीक्षण किया गया। राज्य के स्वास्थ्य मंत्री के अनुसार इस वायरस के संक्रमण से जल्द निजात पाया जा सकता है।

नदी में डूबे 3, परिजनों को 4-4 लाख की मदद

नदी में डूबे 3, परिजनों को 4-4 लाख की मदद
मनोज सिंह ठाकुर  
भोपाल। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने विदिशा जिले के कुरवाई के बेतवा नदी में डूबने से तीन लोगों के असमय निधन पर शोक व्यक्त करते हुए विदिशा जिला प्रशासन को मृतकों के परिजनों को चार-चार लाख रुपए की सहायता राशि प्रदान करने के निर्देश दिए हैं। आधिकारिक जानकारी के अनुसार चौहान ने कहा कि विदिशा जिले के कुरवाई में बेतवा नदी में डूबने से 3 अनमोल जिंदगियों के असमय निधन का समाचार अत्यंत पीड़ादायी है।
ईश्वर से दिवंगत आत्माओं को अपने  चरणों में स्थान देने और परिजनों को यह गहन दुःख सहन करने की शक्ति प्रदान करने की प्रार्थना करते हैं। उन्होंने जिला प्रशासन को मृतकों के परिजनों को 4-4 लाख रुपए की सहायता राशि प्रदान करने के निर्देश दिए हैं।

वोट डालने के लिए एक दिन की जमानत की मांग

वोट डालने के लिए एक दिन की जमानत की मांग
कविता गर्ग  
मुंबई। मनी लॉन्ड्रिंग मामले में गिरफ्तार जेल में बंद महाराष्ट्र के मंत्री नवाब मलिक ने सोमवार को राज्य की छह सीटों पर होने वाले राज्यसभा चुनाव में वोट डालने के लिए एक दिन की जमानत की मांग की है। उन्होंने सोमवार को एक विशेष अदालत का दरवाजा खटखटाया। पिछले हफ्ते, महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख, जो मनी लान्ड्रिंग के आरोप में जेल में हैं, ने भी इसी तरह का एक आवेदन दायर किया था।
बता दें कि सोमवार को मुंबई में एक विशेष अदालत, जिसे मनी लान्ड्रिंग रोकथाम अधिनियम से संबंधित मामलों की सुनवाई के लिए नामित किया गया, ने प्रवर्तन निदेशालय को दोनों आवेदनों पर अपना हलफनामा दाखिल करने का निर्देश दिया है।
ईडी ने नवाब मलिक और अनिल देशमुख की अर्जी पर जवाब दाखिल करने के लिए समय मांगा है। दोनों ने महाराष्ट्र में होने वाले राज्यसभा चुनाव में वोट देने की इजाजत मांगी है। ईडी को कल तक जवाब दाखिल करना है। इस मामले सुनवाई की अगली तारीख 8 जून है। राज्यसभा चुनाव 10 जून को होने हैं। ईडी ने मलिक को इस साल 23 फरवरी को भगोड़े गैंगस्टर दाऊद इब्राहिम और उसके सहयोगियों की गतिविधियों से जुड़ी मनी लान्ड्रिंग जांच के सिलसिले में गिरफ्तार किया था। राकांपा नेता ने अपने आवेदन में 10 जून को एक दिन के लिए जमानत पर रिहा करने की मांग की थी।

सबसे पौष्टिक जड़ी-बूटी, सबसे अधिक महंगी

सबसे पौष्टिक जड़ी-बूटी, सबसे अधिक महंगी

डॉक्टर सुभाषचंद्र गहलोत 
टोक्यो/सिडनी/बर्लिन/वाशिंगटन डीसी। आयुर्वेद में हजारों वर्षों से जिनसेंग का नाम काफी चलन में है। यह एक औषधीय पौधा है। कुछ संस्कृतियों द्वारा जिनसेंग को विश्व की सबसे पौष्टिक जड़ी-बूटी माना गया है, इसी कारण यह सबसे अधिक मंहगी है। इसका वानस्पतिक नाम अँक्स जिनसेंग या साइबेरियन जिनसेंग या एल्युटेरॉकोकस है। इस पौधे की जड़ों का आकार मनुष्य के शरीर से मिलता-जुलता है।
बताया जाता है कि यह औषधि इतनी कारगर और अचूक है कि आज इसे करीब करोड़ों लोग नियमित रूप से इस्तेमाल करते हैं। इसमें शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने व फ्लू जैसे कई संक्रमणों से मुकाबला करने की अद्भुत क्षमता पाई जाती है।जिनसेंग 3000 ईसा पूर्व से अपने औषधीय गुणों के लिए जाना जाता है। इसे पहली बार 1610 ई में किसी डच व्यापारी द्वारा यूरोप ले जाया गया था। जिनसेंग को एक महान अनुकूलक (ग्रेट एडॉप्टर) का दर्जा प्राप्त है, जिसका मतलब है कि यह शरीर के कार्यों को अधिक तनाव के बाद पुनः सामान्य करता है, जो जिनसेंग के सकारात्मक तरीके से नर्वस तथा हारमोनल सिस्टम में काम करने से होता है।
रूसी डॉक्टर ब्रेखम के अनुसार जिनसेंग शरीर के लिए निम्न कार्यों में उपयोगी है।
• कमजोर एवं बीमार व्यक्तियों में शारीरिक तथा मानसिक क्रियाओं को उत्प्रेरित करता है।
• मनुष्य की शारीरिक थकान में जिनसेंग अत्यधिक असरकारक होती है।
• शरीर के सम्पूर्ण इन्डोक्राइन सिस्टम को सुचारु रूप से क्रियान्वित करता है, विशेषकर हाइपोफिसिस, सुप्रारीनल और सेक्सुअल ग्लैन्ड।
• दिमाग के नर्वस सेल्स को उत्प्रेरित करता है, जिससे कुछ नर्वस समस्याओं जैसे साइकोसोमैटिक डिस्टर्बन्सेज इत्यादि के अलावा बुद्धिमत्ता में सुधार आता है।
• नेशनल कैंसर रिसर्च इन्स्टीट्यूट, मैरीलैन्ड के अनुसार काँटेदार जिनसेंग में पाया जाने वाला इल्युथेरोकोकस कैंसर के उपचार में मददगार साबित हुआ है।
• ऑस्ट्रेलिया में इसका प्रयोग हार्ट से सम्बंधित बीमारियों तथा हाई ब्लड प्रेशर को कन्ट्रोल करने के लिए किया जाता है।
• जर्मनी में प्रतिदिन लगभग दस लाख कप जिनसेंग का प्रयोग होता है। यह दिमाग को तेज करता है और सेडेटिव का काम करता है।
• यह लाल एवं सफेद रक्त कोषिकाओं की उत्पत्ति को बढ़ाता है और खून में कोलेस्ट्रॉल लेबल को कम करता है।
• पाचन प्रक्रिया में यह पाचन के लिए आवश्यक जूसेज बनाता है तथा सेक्सुअल एक्टीविटी को बढ़ाता है।
• जापान की ओसाका यूनिवर्सिटी ने यह खोजा है कि जिनसेंग याददाश्त को बढ़ाता है, खून के संचार को बढ़ाता है, मेटाबॉलिजम को सुचारु बनाता है, नर्वस सिस्टम का पुनर्निर्माण करता है, खून में ग्लूकोज के लेबल को सामान्य करता है और आदमियों की प्रजनन शक्ति को बढ़ाता है।
साइबेरियन जिनसेंग तथा गिंग्को बाइलोबा का कॉम्बीनेशन सबसे अधिक एनर्जाइजिंग तथा वाइटलाइजिंग उत्पाद माना जाता है, क्योंकि दोनों ही दिमाग एवं नर्वस क्रियाओं को उत्प्रेरित करते हैं और मसल को अतिआवश्यक एनर्जी प्रदान करते हैं।
साइबेरियन जिनसेंग और गिंग्को बाइलोबा के कॉम्बीनेशन को विश्व प्रसिद्ध एडॉप्टोजेनिक हर्ब माना जाता है। ये दोनों एक साथ समन्वय बनाकर शरीर को पूरी तरह से शक्तिवर्धक बना देते हैं।
गिंग्को बाइलोबा दिमाग के चारों ओर तथा हाँथ एवं पाँवों में खून संचार बढ़ाने के लिए विश्व विख्यात है।

3 गिरफ्तार, 2.58 किलोग्राम ‘ब्राउन शुगर’ मिला

3 गिरफ्तार, 2.58 किलोग्राम ‘ब्राउन शुगर’ मिला

इकबाल अंसारी  
भुवनेश्वर। ओडिशा पुलिस के विशेष कार्यबल (एसटीएफ) ने मादक पदार्थों की तस्करी करने वाले तीन व्यक्तियों को यहां गिरफ्तार कर उनके पास से 2.58 किलोग्राम ‘ब्राउन शुगर’ (एक प्रकार का मादक पदार्थ) बरामद किया। जिसकी कीमत ढाई करोड़ रुपये बताई जा रही है। पुलिस के एक अधिकारी ने सोमवार को बताया कि गोपनीय सूचना के आधार पर एसटीएफ के सदस्यों ने एम्स भुवनेश्वर के पास एक स्थान पर छापेमारी की और तीन व्यक्तियों के पास से ब्राउन शुगर बरामद किया। पुलिस के अनुसार तीनों आरोपी खुर्दा जिले के निवासी हैं। इस संबंध में स्वापक औषधि एवं मनःप्रभावी पदार्थ अधिनियम (एनडीपीएस) कानून 1985 के तहत एक मामला दर्ज किया गया है।

स्वास्थ्य मंत्री जैन के कई ठिकानों पर छापेमारी

स्वास्थ्य मंत्री जैन के कई ठिकानों पर छापेमारी

अंकुर कुमार  
नई दिल्ली। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) सोमवार को मनी लॉन्ड्रिंग मामले में दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री
सत्येंद्र जैन के कई ठिकानों पर छापेमारी कर रही हैं। जैन फिलहाल ईडी की हिरासत में हैं। उन्हें 30 मई को गिरफ्तार किया गया था।
ईडी ने अप्रैल में जैन के परिवार और कंपनियों की 4.81 करोड़ रुपये की संपत्तियां कुर्क की थी।
ईडी के एक अधिकारी ने कहा, "स्वाति जैन, सुशीला जैन और इंदु जैन के स्वामित्व वाली विभिन्न फर्मों से संबंधित 4.81 करोड़ रुपये की अचल संपत्तियां कुर्क की गईं। अकिंचन डेवलपर्स प्राइवेट लिमिटेड, इंडो मेटल इम्पेक्स प्राइवेट लिमिटेड, पर्यास इंफोसोल्यूशंस प्राइवेट लिमिटेड, मंगलायतन प्रोजेक्ट्स प्राइवेट लिमिटेड और जेजे आइडियल एस्टेट प्राइवेट लिमिटेड, वे फर्में थीं जिनके खिलाफ कार्रवाई की गई।
जांच एजेंसी ने मंत्री के खिलाफ केंद्रीय जांच ब्यूरो द्वारा दर्ज एफआईआर के आधार पर जांच शुरू की थी।


टिप्पणी: भारत ने 'ओआईसी' की आलोचना की

टिप्पणी: भारत ने 'ओआईसी' की आलोचना की

अकांशु उपाध्याय  
नई दिल्ली। भारत ने सोमवार को देश के आंतरिक मामलों पर टिप्पणी करने के लिए इस्लामी सहयोग संगठन (ओआईसी) की आलोचना की और टिप्पणी को 'अनुचित और संकीर्ण सोच' वाला बताया। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने एक बयान में कहा, "हमने इस्लामी सहयोग संगठन (आईओसी) के महासचिव की ओर से भारत को लेकर दिए गए बयान को देखा है।
भारत सरकार आईओसी सचिवालय की अनुचित और संकीर्ण सोच वाली टिप्पणियों को स्पष्ट रूप से खारिज करती है। बयान के अनुसार, "भारत सरकार सभी धर्मो को सर्वोच्च सम्मान देती है। एक धार्मिक व्यक्तित्व को बदनाम करने वाले आपत्तिजनक ट्वीट और टिप्पणियां कुछ व्यक्तियों द्वारा की गई थीं। वे किसी भी तरह से, भारत सरकार के विचारों को प्रतिबिंबित नहीं करते हैं। संबंधित निकायों की ओर से इन व्यक्तियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई पहले ही की जा चुकी है।

भारत: 24 घंटे में कोरोना के 4,518 मामलें

भारत: 24 घंटे में कोरोना के 4,518 मामलें 

अकांशु उपाध्याय  

नई दिल्ली। भारत में कोरोना के मामले फिर तेजी से बढ़ने लगे हैं। पिछले 24 घंटे में कोरोना के 4,518 मामलें सामने आए हैं। यानी कल की तुलना में 5.8% ज्यादा केस मिले है। चौंकाने वाली बात ये है कि सबसे ज्यादा केस केरल और महाराष्ट्र में मिले हैं। भारत में अब तक कोरोना के 4,31,81,335 केस मिल चुके हैं। 5 सबसे संक्रमित राज्यों की बात करें तो केरल में 1,544, महाराष्ट्र में 1494, दिल्ली में 343, कर्नाटक में 301 और हरियाणा में 148 केस मिले हैं।

देश में मिले कुल केसों में 84.77% केस इन्हीं 5 राज्यों में मिले हैं। वहीं, केरल में अकेले 34.17% केस मिले हैं। भारत में पिछले 24 घंटे में 9 लोगों की मौत हो गई। अब तक देश में 5,24,701 लोगों की मौत हो चुकी है। देश में रिकवरी रेट 98.73% हो गया है। पिछले 24 घंटे में 2,779 लोग कोरोना से ठीक हुए हैं। अब तक देश में 4,26,30,852 लोग ठीक हो चुके हैं। एक्टिव केस बढ़कर 25,782 हो गए हैं। पिछले 24 घंटे में एक्टिव केस 1,730 बढ़े हैं। भारत में अब तक कोरोना वैक्सीन की 1,94,12,87,000 डोज लग चुकी हैं।

पीएम ने सिक्कों की एक नई श्रृंखला पेश की

पीएम ने सिक्कों की एक नई श्रृंखला पेश की 

अकांशु उपाध्याय  
नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को सिक्कों की एक नई श्रृंखला पेश की, जो ‘दृष्टिहीनों के अनुकूल’ भी हैं। ये सिक्के 1 रुपये, 2 रुपये, 5 रुपये, 10 रुपये और 20 रुपये मूल्यवर्ग के हैं और इस पर आजादी के अमृत महोत्सव (एकेएएम) का डिजाइन बना है। ये विशेष रूप से जारी किए सिक्के नहीं है, बल्कि आम चलन में बने रहेंगे। मोदी ने वित्त मंत्रालय के ‘आइकॉनिक सप्ताह समारोह’ को संबोधित करते हुए कहा, “सिक्कों की ये नई श्रृंखला लोगों को अमृत काल के लक्ष्य की याद दिलाएगी और लोगों को देश के विकास की दिशा में काम करने के लिए प्रेरित करेगी।” 
इस मौके पर मोदी ने ‘जन समर्थ पोर्टल’ की शुरुआत भी की, जो 12 सरकारी योजनाओं का क्रेडिट-लिंक्ड पोर्टल है। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि इनमें से प्रत्येक योजना को पोर्टल पर प्रदर्शित किया जाएगा। उन्होंने कहा, “इस पोर्टल से सहूलियत बढ़ेगी और नागरिकों को सरकारी कार्यक्रम का लाभ उठाने के लिए हर बार एक ही सवाल पूछना नहीं पड़ेगा।

पायलट का घेराव कर, नौकरी में बहाल करवाने की मांग

पायलट का घेराव कर, नौकरी में बहाल करवाने की मांग 

नरेश राघानी  
श्रीगंगानगर। राजस्थान के श्रीगंगानगर में सोमवार को पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट का कोविड हैल्थ असिस्टेंट (सीएचए) कर्मचारियों ने घेराव करते हुए सरकारी नौकरी में बहाल करवाने की मांग रखीं। पूर्व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष पायलट नई दिल्ली (सराय रोहिल्ला) एक्सप्रेस द्वारा सोमवार सुबह श्रीगंगानगर पहुंचे। सीएचए कर्मचारी संघर्ष समिति के प्रदेश संयोजक सुखदीप सुखी की अगुवाई में काफी संख्या में सीएचए कर्मचारियों ने पायलट को ट्रेन से उतरते ही घेर लिया।
यह कर्मचारी नारेबाजी करते हुए सरकारी सेवा में वापस लिए जाने की मांग करने लगे।
पायलट के ट्रेन से उतर कर रेलवे स्टेशन के बाहर परिसर में अपनी गाड़ी तक पहुंचने के दौरान सीएचए कर्मचारी लगातार उनके आगे पीछे नारेबाजी करते रहे। वे बार-बार मांग कर रहे थे कि उनको वापस सरकारी सेवा में लिया जाए। घेराव करने वालों में महिला कर्मी भी काफी संख्या में शामिल रहीं। उन्होंने चिल्ला चिल्ला कर सचिन पायलट का ध्यान अपनी मांग की तरफ और जयपुर में शहीद स्मारक पर चल रहे धरने की तरफ आकृष्ट करवाया।

वैवाहिक रिश्ता खत्म करने के आरोप में प्राथमिकी दर्ज

वैवाहिक रिश्ता खत्म करने के आरोप में प्राथमिकी दर्ज

मनोज सिंह ठाकुर  
इंदौर। मध्यप्रदेश के इंदौर में 23 वर्षीय महिला को लगातार तीन बार ‘‘तलाक’’ बोलकर उससे तुरंत वैवाहिक रिश्ता खत्म करने के आरोप में उसके शौहर के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई है। एक पुलिस अधिकारी ने सोमवार को यह जानकारी दी। खजराना पुलिस थाने के एक अधिकारी ने बताया कि महिला ने प्राथमिकी दर्ज कराते हुए आरोप लगाया कि उसके शौहर अल्ताफ पटेल ने दोनों के बीच वैवाहिक रिश्ते को तुरंत खत्म करने की नीयत से उसे रविवार को ‘‘तलाक, तलाक, तलाक” बोला।
पुलिस अधिकारी ने आरोपों के हवाले से बताया कि महिला द्वारा बेटी को जन्म दिए जाने के कारण उसका शौहर उस पर न केवल बार-बार तंज कसता था, बल्कि उसके साथ गाली-गलौज कर उसे पीटता भी था। उन्होंने बताया कि पटेल के खिलाफ मुस्लिम महिला (विवाह अधिकार संरक्षण) अधिनियम 2019 और भारतीय दंड विधान के संबद्ध प्रावधानों के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई है। पुलिस अधिकारी ने बताया कि मामले की विस्तृत जांच जारी है और आरोपी के खिलाफ कानूनी औपचारिकताएं पूरी की जा रही हैं।
गौरतलब है कि मुस्लिम महिला (विवाह अधिकार संरक्षण) अधिनियम, 2019 एक साथ तीन बार तलाक बोलकर वैवाहिक संबंध खत्म करने की प्रथा पर रोक लगाता है। इस कानून में मुजरिम के लिए तीन साल तक के कारावास का प्रावधान है।

हाईकोर्ट में सुनवाई के दौरान शॉर्ट सर्किट हुआ

हाईकोर्ट में सुनवाई के दौरान शॉर्ट सर्किट हुआ 

इकबाल अंसारी  
रांची। झारखंड उच्च न्यायालय में सोमवार को चल रहीं सुनवाई के दौरान अचानक आग लग गई। आग लगने की वजह शॉर्ट सर्किट बताई जा रही है। आग लगने से कुछ देर के लिए अफरा-तफरी की स्थिति उत्पन्न हुई, लेकिन कुछ ही देर में आग पर काबू पा लिया गया और किसी बड़े नुकसान की खबर नहीं है। प्राप्त जानकारी के अनुसार झारखंड हाई कोर्ट के कोर्ट नंबर-2 में सुनवाई के दौरान ही शॉर्ट सर्किट हुआ और आग लग गयी।
इसके बाद त्वरित कार्रवाई करते हुए आग को बुझाया गया। इस आगलगी में किसी तरह के नुकसान की सूचना नहीं है। बताया जा रहा है कि जब कोर्ट रूम में आग लगी, तब कोर्ट की कार्यवाही चल रही थी और न्यायाधीश भी कोर्ट रूम में ही उपस्थित थे। हालांकि इस घटना में किसी के हताहत होने या किसी नुकसान की सूचना नहीं है।
वहीं, आग लगते ही कोर्ट रूम में कुछ देर के लिए अफरा-तफरी का माहौल देखने को मिला। वहां मौजूद वकील और मुवक्किल भी आग लगते ही बाहर की ओर जाने लगे, लेकिन आग पर जल्द ही काबू पा लिया गया, जिससे समय रहते किसी बड़ी अनहोनी होते-होते रह गई। कुछ देर के लिए अदालत का कामकाज भी रोकना पड़ा। लेकिन आग पर काबू के साथ ही सभी ने राहत की सांस ली।

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण  

1. अंक-241, (वर्ष-05)
2. मंगलवार, जून 7, 2022
3. शक-1944, ज्येष्ठ, शुक्ल-पक्ष, तिथि-सप्तमी, विक्रमी सवंत-2079।
4. सूर्योदय प्रातः 05:22, सूर्यास्त: 07:15।
5. न्‍यूनतम तापमान- 30 डी.सै., अधिकतम-43+ डी.सै.। उत्तर भारत में बरसात की संभावना।
6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है।
7.स्वामी, मुद्रक, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम व शिवांशु, (विशेष संपादक) श्रीराम व सरस्वती (सहायक संपादक) संरक्षण-अखिलेश पांडेय, ओमवीर सिंह, वीरसेन पवार, योगेश चौधरी आदि के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी।
8. संपर्क व व्यवसायिक कार्यालय- चैंबर नं. 27, प्रथम तल, रामेश्वर पार्क, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102।
9. पंजीकृत कार्यालयः 263, सरस्वती विहार लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102
http://www.universalexpress.page/
www.universalexpress.in
email:universalexpress.editor@gmail.com
संपर्क सूत्र :- +919350302745--केवल व्हाट्सएप पर संपर्क करें, 9718339011 फोन करें।
           (सर्वाधिकार सुरक्षित)

नगर निगम चुनाव में हर तरह के हथकंडे अपनाए

नगर निगम चुनाव में हर तरह के हथकंडे अपनाए अकांशु उपाध्याय  नई दिल्ली। नगर निगम चुनाव की मतगणना के नतीजों पर अपनी खुशी जताते हुए...