रविवार, 17 नवंबर 2019

साधू-संत समाज को आहत कर रही सरकार

महंत आशीष गिरी ने खुद को क्यों मारी गोली, जाने पूरी खबर


प्रयागराज। संत समाज इस समय शौक में है। आज सुबह निरंजनी अखाड़े के महंत आशीष गिरी ने लाइसेंसी पिस्टल से खुद को गोली मार ली। घटना की खबर मिलते ही डीआईजी, एसपी सिटी समेत फॉरेंसिंक टीम भी घटनास्थल पर पहुंच गई। उन्हें करीब से जानने वाले धर्मगुरुओं का कहना है कि वह अपनी बीमारी को लेकर काफी परेशान रहते थे। बताते हैं कि उनका लिवर खराब हो गया था, इसी से वह परेशान रहते थे। अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष नरेंद्र गिरी भी मौके पर पहुंच गए। खबरों में बताया जा रहा है कि आज सुबह ही अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष नरेंद्र गिरी ने आशीष गिरी से फोन पर बात की थी। उन्हें नाश्ते के लिए मठ में बुलाया था। फोन पर आशीष गिरी ने कहा था कि वह स्नान करने के बाद आ रहे हैं। कुछ देर बाद जब वह नहीं आए, तब मठ के लोग उनके आवास पर गए। दूसरी मंजिल पर बने कमरे का दरवाजा खुला था। नीचे जमीन पर बिस्तर पर खून से लथपथ आशीष गिरी का शरीर पड़ा था। उनके हाथ में पिस्टल थी। बताया जा रहा है कि आशीष गिरी हाई ब्लड प्रेशर और पेट की बीमारी से परेशान थे।
रिपोर्ट-बृजेश केसरवानी


नेताओं ने बसपा छोड़ कांग्रेस की सदस्यता ली

प्रयागराज। बसपा को इलाहाबाद से लगा झटका, भाजपा से सभी दल के नेता इस कदर प्रभावित है की सत्ता और प्रभाव की चाह में अपनी विचारधारा के विरुद्ध खड़े होने सेेे नहीं नहीं कतरा रहे हैं। परिणाम चाहे जो भीी हो, सुख-सुविधा और सत्ता की चाह आदमीी को अपने कर्तव्य से भटकानेेे के लिए सबसेे महत्वपूर्ण एवं कारगर रास्ता है!
इलाहाबाद से बसपा के पूर्व जिलाध्यक्ष आरके गौतम शहर उत्तरी विधानसभा के कोषाध्यक्ष श्रीश चंद्र दुबे, शहर उत्तरी के सेक्टर अध्यक्ष रितेश कुमार सहित सैकड़ों कार्यकर्ता आज लखनऊ कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष श्री अजय कुमार लल्लू एवं पूर्व केन्द्रीय मंत्री श्री पीएल पुनिया के नेर्तत्व में कांग्रेस पार्टी की सदस्ययता ग्रहण कीी।



रिपोर्ट-बृजेश केसरवानी


सीएम टीम में किस-किसको मिलेगा स्थान

राणा ओबराय
हरियाणा मन्त्रिमण्डल के बाद अब सीएम की टीम में किस-किस को मिलेगा स्थान, पूर्व मंत्री कृष्ण बेदी हो सकते हैं मुख्यमंत्री के राजनीतिक सलाहकार
चंडीगढ़। आखिरकार 20 दिनों के बाद हरियाणा मंत्रिमंडल के गठन का कार्य पूरा हो ही गया। वैसे तो मंत्रिमंडल के गठन होने के तुरंत बाद मुख्यमंत्री कार्यालय में अधिकारियों को तुरंत समायोजित कर दिया जाता है। परंतु अब की बार मुख्यमंत्री को मंत्रिमंडल की तरह अपने कार्यालय में अधिकारियों और नेताओं को फिट करने के लिए भी जद्दोजहद करनी पड़ रही है। आईएएस अधिकारियों और पूर्व में ओएसडी व एडवाइजर के पद पर रहे सभी मुख्यमंत्री की टीम में शामिल होना चाहते हैं सभी अपने आकाओं के द्वारा अपनी गोटियां फिट कर रहे हैं ! अब देखना यह है कि सीएमओ में स्थान पाने में कौन-कौन से आईएएस और पूर्व में ओएसडी आदि रहे स्थान पाने में कामयाब होते हैं। खट्टर सरकार में प्रधान सचिव व अतिरिक्त प्रधान सचिव राजेश खुल्लर तथा वी उमाशंकर अपने- अपने पद पर बने रह सकते हैं! निजी सुत्रो के अनुसार यदि मुख्यमंत्री अपने कार्यालय में प्रधान सचिव को बदलते हैं तो आईएएस सुधीर राजपाल, अनुराग रस्तोगी अथवा संजीव कौशल मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव हो सकते हैं! यदि मुख्यमंत्री के मीडिया सलाहकार की बात की जाए तो जिस तरह से पूर्व मीडिया सलाहकार अमित आर्य मुख्यमंत्री के इर्दगिर्द हमेशा देखे जाते हैं! तो इससे ऐसा लगता है कि वह इस बार पहले की तरह मुख्यमंत्री मनोहर लाल के मीडिया सलाहकार चंडीगढ़ हो सकते हैं! पूर्व मीडिया सलाहकार राजीव जैन को मीडिया सलाहकार दिल्ली एनसीआर का कार्यभार सौंपा जा सकता है! सुत्रो की माने तो अबकी बार सीएमओ में स्थान पाने के लिए सबसे मुश्किल दौर पूर्व ओएसडी भूपेश्वर दयाल और अमरिंदर सिंह का चल रहा है। मुख्यमंत्री कार्यालय में इनकी नियुक्ति को लेकर संशय बरकरार है। आरएसएस के कई सक्रिय कार्यकर्ता भी मुख्यमंत्री कार्यालय में स्थान पाने के लिए अपने अपने नेताओं से मुख्यमंत्री को सिफारिश करवाने में लगे हुए हैं! हो सकता है मुख्यमंत्री कार्यालय और निवास में अधिकारी के रूप में कुछ नए चेहरे देखने को मिले।निजी सुत्रो के अनुसार मुख्यमंत्री के राजनीतिक सलाहकार पद के लिए पूर्व मंत्री कृष्ण बेदी का नाम भी तेजी से आगे आ रहा है। क्योंकि सीएम मनोहर लाल के पूर्व राजनीतिक सलाहकार दीपक मंगला अबकी बार पलवल से विधायक बन गए हैं। इसलिए सीएम का राजनीतिक सलाहकार कोई अनुभवी नेता ही होना चाहिए जो सरकार और संगठन में पूरी तरह तालमेल बिठा सके!


कुछ प्रदूषण कम होने की संभावना:अरविंद

नई दिल्ली। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने रविवार को एक बार फिर कहा कि राष्ट्रीय राजधानी में वायु प्रदूषण पराली जलने के कारण है और अब इसके लगभग खत्म होने पर वायु गुणवत्ता सुधर रही है। दिल्ली सरकार के संवाद एवं विकास आयोग के उपाध्यक्ष जैस्मीन शाह ने कुछ तस्वीरों के साथ एक ट्वीट साझा किया। तस्वीरों में पराली जलने की घटनाएं कम होने से दिल्ली वायु गुणवत्ता सुधरती हुई दिखाई जा रही थी।
शाह ने ट्वीट किया, दिल्ली के ज्यादातर भागों में बिल्कुल उसी समय एक्यूआई स्तर 200 (मध्यम स्तर) से कम चला गया, जब पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश के खेतों में पराली जलाए जाने की घटनाएं कम हो रही हैं।
इस पर प्रतिक्रिया देते हुए केजरीवाल ने कहा कि अक्टूबर के पहले महीने में पराली जलना शुरू होते ही एक्यूआई बढऩा शुरू हो गया था।
केजरीवाल ने ट्वीट किया, उत्तर भारत में पराली जलने और वायु गुणवत्ता सूचकांक में बढऩे के बीच बहुत बड़ा संबंध देखा जा सकता है। अक्टूबर के पहले महीने में पराली जलना शुरू होते ही एक्यूआई बढऩा शुरू हो गया था। अब इसके लगभग खत्म होने पर वायु गुणवत्ता सुधर रही है।


कहां गायब हो रही है अपनी गोरियां

याद है, जब छोटे थे, तब स्कूल जाने के लिये अलह सुबह उठाया जाता था, यह कहकर देखो चिडिया आयी, देखो कौआ आया, वो देखो मोर आया। घर की मुण्डेर पर छोटी सी चिडिया चहकती रहती और उठकर स्कूल के लिये तैयार होने लगते। गरमी में कोयल की कूक मन को अलग ही सुकून देती थी। इसके बाद बच्चों को टीवी पर डोरीमॉन, नोमिता जैसे कार्टून कैरेक्टर्स को देखकर उठाया जाता था। अब तो मोबाईल पर ही सब कुछ उपलब्ध है, इसलिये टीवी की बजाय मोबाईल पर ही चित्र या कार्टून्स दिखाकर बच्चों को उठाने का जतन किया जाता है।


यह सच है, परिवर्तन बहुत ही तेजी से हुआ है, हमारी पीढी इस द्रुत गति से होने वाले परिवर्तन की साक्षात गवाह है। यह परिवर्तन सतत प्रक्रिया है, पर अस्सी के दशक के उपरांत परिवर्तन की गति को पंख लग चुके हैं। कल तक मुण्डेर पर बैठे कौए और अन्य पक्षियों के कलरव पर गाने भी बना करते थे, शकुन अपशकुन के मामले में भी अनेकानेक धारणाएं हुआ करती थीं।


विडंबना यही है कि हमने भाग दौड़ में आधुनिक दुनिया की कल्पना तो कर ली पर प्रकृति के साथ जो हमने छेड़छाड़ या सीधे शब्दों में कहें बलात्कार किया है, वह अक्ष्म्य ही है। इसका भोगमान कोई ओर नहीं वरन हमारी आने वाली पीढ़ी को ही भोगना है। ईश्वर ने इस कायनात की रचना की है। इस सृष्टि में जितने भी जीव जंतु प्रभु ने बनाये हैं, सबकी अपनी अलग-अलग भूमिका और महत्व है। स्वच्छंद विचरण करने वाले पक्षियों पर अघोषित तौर पर मानव का हस्तक्षेप भारी पड़ा है। अपने सुख सुविधा और स्वाद के चक्कर में पक्षियों को प्रश्रय देने के स्थान पर मौत के घाट उतारा गया, जिससे इनकी संख्या में तेजी से गिरावट दर्ज की गयी, रही सही कसर पर्यावरण प्रदूषण ने पूरी कर दी।


हमें यह कहने में कोई संकोच नहीं है कि आज पक्षियों की सैकड़ों प्रजातियां विलुप्तप्राय हैं। गिद्ध, सारस, कोयल, गोरैया, कौवा आदि अब बमुश्किल ही दिख पाते हैं। गुज़रे जमाने में राजा महाराजाओं से लेकर नवाबों की थाली की शान होने वाली शीली, बटेर, दिघोची, तीतर, लालशर जैसी चिडिया अब देखने को नहीं मिलतीं। अनेक निरामिष भोजनालयों में अब भुने हुए तीतर या बटेर के स्थान पर गोरैया को ही परोसा जाता रहा है। गाय, भैंस का दूध बढ़ाने की गरज़ से दी जाने वाली दवाओं का प्रतिकूल असर भी देखने को मिला है। इनके मृत शरीर का भक्षण कर पर्यावरण का एक सशक्त पहेरूआ गिद्ध अब देखे से नहीं दिखता है। पक्षियों की संख्या में कमी से पर्यावरण विशेषज्ञों की पेशानी पर चिंता की लकीरें साफ दिखायी पड़ने लगी हैं।


पर्यावरण विदों की मानें तो पक्षियों का होना मानव स्वास्थ्य के लिये अत्यावश्यक है। ये मानव जीवों के लिये खतरनाक कीट पतंगों को अपना निवाला बनाकर मनुष्यों की रक्षा करते हैं। ये पक्षी ही हैं जो कीट पतंगों के अलावा मृत जानवरों के अपशिष्ट को भी धरती से समाप्त करते हैं। विलुप्त होते पक्षियों को लेकर सरकारी और गैर सरकारी संगठन चिंता जाहिर कर रस्म अदायगी से बाज नहीं आते हैं। मन राखन लाल की भूमिका निभाने वाले इन संगठनों ने कभी भी पक्षियों को बचाने की दिशा में कोई ठोस पहल नहीं की है। यहाँ तक कि भारत सरकार के सूचना प्रसारण मंत्रालय द्वारा भी ग्रामीणों को जागरूक बनाने की दिशा में डाक्यूमेंटरी या विज्ञापनों का निर्माण तक नहीं करवाया गया है। परिणाम यह है! कि दीगर पक्षियों के अलावा हर घर में चहकने वाली गोरैया भी अब दुर्लभ पक्षी की श्रेणी में आ चुकी है।


एक समय था! जब घरों में महिलाओं द्वारा गेहूँ या चावल बीनते समय कुछ दाने इन चिड़ियों के लिये जानबूझकर गिरा दिये जाते थे। इन दानों के चक्कर में घरों के आसपास चिड़िया चहकती रहती थीं। अब मॉल्स और डिब्बा बंद प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थों के बढ़े प्रचलन ने इन पक्षियों के मुँह से निवाला छीन लिया है। इसके अलावा शहरों में सीना ताने खड़े मोबाईल टॉवर की चुम्बकीय तरंगों, वाहनों के द्वारा छोड़े जाने वाले धुंए ने भी पक्षियों के लिये प्रतिकूल माहौल तैयार किया है। एक अनुमान के अनुसार पक्षियों के कम होने के पीछे कामोत्तेजक दवाओं का तेजी से प्रचलन में आना है। असंयमित खानपान और रहन सहन के चलते कामोत्तेजक दवाओं का बाज़ार तेजी से गर्माया है। गोरैया के अण्डों का इस्तेमाल कामोत्तेजक दवाओं में किया जाता है। चीन के माफिया सरगनाओं ने गैण्डे के सींग से सेक्स बढाने की दवाएं ईज़ाद की। कल तक गैण्डों से आच्छादित भारत के जंगलों में अब इनकी तादाद महज़ 200 से भी कम ही रह गयी है।


अब समय आ चुका है !कि पक्षियों को बचाने की दिशा में हम जागरूक हो जायें। हमें हर हाल में पक्षियों के जीने के लिये अनुकूल माहौल प्रशस्त करना ही होगा। पक्षियों की तादाद अगर दिनों दिन कम होती गयी!  तो पर्यावरण का जो असंतुलन निर्मित होगा उसका भोगमान किसी और को नहीं हमारी आने वाली पीढ़ी को ही भोगना होगा, जिसके उज्ज्वल भविष्य के लिये आज हम धन दौलत एकत्र कर छोड़ जाने वाले हैं। दिल्ली में पर्यावरण का असंतुलन साफ दिखायी देता है। सर्दी आते ही दिल्ली में जब चाहे तब शालाएं बंद करवा दी जाती हैं। सिवनी में आबोहवा अभी ठीक है पर अगर हम नहीं चेते तो हमारे जिले का हाल भी भविष्य में दिल्ली जैसा हो जाये तो किसी को आश्चर्य नहीं होना चाहिये। हम अपने वंशजों को धन दौलत, संपन्नता, सुविधाएं तो देकर इस दुनिया से रूखसत हो जायेंगे, किन्तु जब पर्यावरण असंतुलित होगा तब हमारी आने वाली पीढ़ी जिस कठिनाई में जीवन व्यतीत करेगी उसका अंदाज़ा आज लगाना असंभव ही है। सरकार को चाहिये कि वह गैर सरकारी संगठनों के साथ मिलकर पक्षियों को बचाने की दिशा में तत्काल ही कोई मुहिम की ठोस कार्ययोजना बनाये ताकि पक्षियों के कलरव को आने वाली पीढ़ी सुन सके और महसूस कर सके!


अब रबड़ के टायर वाली मेट्रो चलेगी

नई दिल्ली! आने वाले दिनों में देश के किसी शहर में अगर रबड़ के टायर वाली मेट्रो चलती नजर आए तो हैरानी नहीं होनी चाहिए! लाइट मेट्रो के बाद अब केंद्र सरकार टायर वाली मेट्रो चलाने की तैयारी कर रही है! इसके लिए नीति भी तैयार की जा रही है| यह बात ग्रे लाइन पर मेट्रो के उद्घाटन के दौरान केंद्रीय शहरी विकास राज्य मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने कही है|


पायलट ने भेजा आपात संदेश, पाकिस्तान ने भारतीय विमान को ऐसे बचाया


उन्होंने कहा कि मेट्रो बड़े शहरों के लिए सफल सार्वजिनक परिवहन की सुविधा है| देश में शहरीकरण तेजी से बढ़ रहा है! इससे वर्ष 2030 तक देश की करीब 60 करोड़ आबादी शहरों में होगी! दिल्ली मेट्रो की सफलता के बाद द्वितीय व तृतीय स्तर के शहरों में भी मेट्रो जैसी सुविधाओं की मांग हो रही है! मेट्रो लाइट के बाद अब मेट्रो ऑन टायर्स नीति पर काम किया जा रहा है| इस तरह के मेट्रो के विकास में खर्च और भी कम हो जाएगा!


लापता श्रेयांश की लाश मिली कुँए में, आंगन में खेलते वक़्त गिरने की आशंकाडी एमआरसी के अधिकारी कहते हैं! कि दुनिया के कुछ शहरों में टायर्स मेट्रो चल रही हैं! यह मेट्रो भी रेलवे ट्रैक पर चलती है, लेकिन पहियों में टायर का इस्तेमाल होता है! पेरिस में सबसे पहले इसका इस्तेमाल किया गया है| टायर वाली मेट्रो पेरिस, हांक कांग समेत कई देशों में सफलतापूर्वक चल रही है! इसके रफ्तार तकरीबन 60 किलोमीटर प्रति घंटा होती है! और इसको बनाने में अब चल रही मेट्रो से 30 प्रतिशत कम खर्च आता है!


पटना में मामूली विवाद में मारपीट,गोलाबारी, मौत

पटना। राजधानी पटना के सिटी इलाके में रविवार को जमकर बवाल हुआ। घटना बाईपास थाना क्षेत्र के रानीपुर पैजावा की है जहां गाड़ी बैक करने के मामूली से विवाद को लेकर दो गुटों में जमकर मारपीट और गोलीबारी हो गई। गोलीबारी की इस घटना में पूर्व वार्ड पार्षद गीता देवी के पुत्र रवि कुमार नामक युवक की मौके पर ही मौत हो गई। इस घटना से गुस्साए मृतक के परिजनों और स्थानीय लोगों ने जमकर हंगामा मचाया। इस दौरान आक्रोशितों ने सड़क पर आगजनी कर फोरलेन को लगभग 5 घंटे तक जाम कर दिया जिससे यातायात व्यवस्था पूरी तरह चरमरा गयी। आक्रोशितों ने फोरलेन से गुजरने वाले वाहनों में भी तोडफ़ोड़ की साथ ही वाहन चालकों के साथ भी मारपीट की। आक्रोशितों ने हमलावरों की पांच मोटरसाइकिल को भी आग के हवाले कर दिया। हंगामा शांत कराने पहुंची पुलिस को भी उपद्रवियों ने खदेड़ दिया और उनपर पथराव शुरू कर दिया। घटना की कवरेज करने गए पत्रकारों को भी उपद्रवियों ने खदेड़ दिया। इस दौरान उपद्रवियों द्वारा कई राउंड हवाई फायरिंग भी की गई। रोड़ेबाजी में तीन-चार लोग घायल हो गए हैं। फोरलेन जाम हंगामा की सूचना मिलते ही सिटी एसपी पटना पूर्वी, एडिशनल एसपी समेत विभिन्न थानों की भारी संख्या में पुलिस बल ने मौके पर पहुंचकर काफी मशक्कत के बाद आक्रोशित लोगों को शांत करा कर फोरलेन पर परिचालन सामान्य कराया। पुलिस ने शव को अपने कब्जे में लेकर उसे पोस्टमार्टम के लिए नालंदा मेडिकल कॉलेज भेज दिया। बताया जाता है कि पूर्व वार्ड पार्षद गीता देवी के पति देवेंद्र सिंह अपनी कार में सवार होकर रानीपुर पैजावा के रास्ते गुजर रहे थे, इसी दौरान उसी इलाके के रहने वाले विजय कुमार सिंह की गाड़ी से उनकी गाड़ी की मामूली टक्कर हो गई। बस इसी बात को लेकर दोनों के बीच बकझक शुरू हो गई और देखते ही देखते दोनों पक्षों के बीच जमकर मारपीट शुरू हो गयी। इसी दौरान हथियारबंद अपराधियों ने पूर्व वार्ड पार्षद के बेटे रवि कुमार पर गोली चला दी, जिससे उसकी घटनास्थल पर ही मौत हो गयी।


एयर इंडिया और भारत पेट्रोलियम बेचे जाएंगे

मार्च तक बेच दिया जाएगा एयर इंडिया और भारत पेट्रोलियम…. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा… ये बतायी है वजह


नई दिल्ली। राज्य के स्वामित्व वाली दो कर्ज ग्रस्त कंपनियों एयर इंडिया और भारत पेट्रोलियम कॉरपोरेशन को अगले साल मार्च तक सरकार द्वारा बेचे जाने की उम्मीद है। वित्त मंत्री  निर्मला सीतारमण ने टाइम्स ऑफ इंडिया को दिए इंटरव्यू में यह बात कही। टाइम्स आफ इंडिया के हवाले से एनडीटीवी ने कहा है कि वित्त मंत्री का यह बयान ऐसे समय में आया है। जब देश वित्तीय तनाव का सामना कर रहा है और उस पर लगभग 58 हजार करोड़ रुपए का कर्ज चढ़ा हुआ है। द डेली से सीतारमण ने कहा कि हम, दोनों पर इस उम्मीद के साथ आगे बढ़ रहे हैं कि हम इस साल इसे पूरा कर सकते हैं। इससे जमीनी हकीकत सामने आएगी।


सीतारमन ने कहा, 'एयर इंडिया की बिक्री प्रक्रिया शुरू होने से पहले ही निवेशकों में उत्साह देखा गया है।' पिछले साल निवेशकों ने एयर इंडिया को खरीदने में ज्यादा उत्साह नहीं दिखाया था इसलिए इसे नहीं बेचा जा सका था। बता दें कि मौजूदा वित्त वर्ष में कर संग्रह में गिरावट को देखते हुए सरकार विनिवेश और स्ट्रैटजिक सेल के जरिए रेवेन्यू जुटाना चाहती है।वित्त मंत्री ने कहा कि सरकार को इन दो कंपनियों को बेचने से इस वित्त वर्ष में एक लाख करोड़ का फायदा होगा।


इस महीने की शुरुआत में एयर इंडिया के चेयरमैन अश्विनी लोहानी ने एयर इंडिया के कर्मचारियों को खुला खत लिखा था। उन्होंने कहा था कि विभाजन एयरलाइन की स्थिरता को सक्षम कर सकता है। वहीं सीतारमण ने कहा, 'एयर इंडिया के लिए इन्वेस्टर्स के बीच काफी रुझान है।'बीते साल सरकार ने एयरलाइन में 76 प्रतिशत हिस्सेदारी और प्रबंधन नियंत्रण को रद्द करने के लिए एयर इंडिया के लिए EoI मंगाई थी लेकिन इसे एक भी बोलीदाता नहीं मिला था। सरकार के पास वर्तमान में एयर इंडिया की 100 प्रतिशत इक्विटी है।


टैकंर से तेल लीक ,लोग लाए बाल्टी-डिब्बे

सीकर। राजस्थान के सीकर जिले की नीमकाथाना के चला गांव में आज डीजल से भरा एक टैंकर पलट गया, इससे टैंकर में भरा तेल बाहर बहने लगा। तेल के टैंकर के पलटने की सूचना मिलते ही मौके पर ग्रामीण पहुंच गए। ग्रामीणों ने बाहर की ओर बह रहे तेल को बाल्टियों, ड्रमों और कोन में भरा और अपने घर ले गए। हादसे के बाद लोगों ने पुलिस को मामले की जानकारी दी। पुलिस ने घटनास्थल पर पहुंचकर मौके से लोगों को हटाया। जानकारी के मुताबिक जिले के चला गांव में उस वक्त लोगों में हड़कंप मच गया जब डीजल से भरा एक टैंकर अनियंत्रित होने से पलट गया है। टैंकर पलटने से उसमें से भरा डीजल तेजी से सड़क पर बहने लगा। टैंकर पलटने के बाद डीजल लूटने के लिए मौके पर लोगों की लंबी कतार लग गई। लोग बड़ी संख्या में अपने अपने घरों से बर्तन लेकर पलटे हुए डीजल के टैंकर के पास आए और तेल लूटकर ले जाने लगे। तेल को लूटने में बड़ी संख्या में महिलाएं भी शामिल थीं। वहीं भरा हुआ डीजल का टैंकर सड़क पर पलट जाने से दुर्घटना की आशंका भी बनी हुई है। हादसे के बाद लोगों ने पुलिस को भी पूरे मामले की जानकारी दी, जिसके बाद पुलिस ने मौके पर पहुंच कर घटनास्थल का मुआयना किया और लोगों को टैंकर के पास से हटाया।


प्रदर्शन करता किसानो की हिंसा, बवाल

उन्नाव। ट्रांस गंगा सिटी परियोजना के लिए जमीन अधिग्रहण के खिलाफ किसानों का प्रदर्शन अब और हिंसक हो गया है। मुआवजे की मांग को लेकर भड़के किसानों ने रविवार को पावर सब-स्टेशन के पास रखे पाइपों में आग लगा दी। इस दौरान पुलिस के साथ उनकी झड़प भी हुई।


किसानों ने आरोप लगाया कि यूपी स्टेट इंडस्ट्रियल डेवलपमेंट कॉर्प की ट्रांस गंगा सिटी परियोजना के लिए अधिग्रहित की गई जमीन के लिए उन्हें उचित मुआवजा नहीं दिया गया। प्रदर्शकारी किसानों की मांग है कि उन्हें उनकी जमीन का उचित मुआवजा दिया जाए।


पुलिस और किसानों के बीच झड़प को लेकर उन्नाव एसपी ने कहा, 'ग्रामीणों और कुछ उपद्रवियों ने यूपी स्टेट इंडस्ट्रियल डेवलपमेंट कॉर्पोरेशन के अधिकारियों और उनके वाहनों पर हमला किया था। UPSIDC ने 8 नामजद और 200 अज्ञात लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई है। आरोपियों पर जल्द कार्रवाई की जाएगी'


उन्नाव के एसपी का कहना है, 'कुछ उपद्रवियों ने बाद में पुलिस पार्टी पर गोलियां चलाईं और पथराव किया। 5 पुलिस वाले घायल हो गए। पुलिस ने 30 नामजद और 200 अज्ञात लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है। जांच चल रही है। 5 लोग पहले ही गिरफ्तार किए जा चुके हैं।'
वहीं, आज एक वाहन में आग लगा दी गई। जिला मजिस्ट्रेट (डीएम) ने कहा, 'कुछ बदमाश ऐसा कर रहे हैं। हम गांवों में जाएंगे और लोगों से शांति बनाए रखने की अपील करेंगे। यह उपद्रवियों का काम है। हम शांति बनाए रखेंगे और ट्रांस गंगा सिटी परियोजना का काम भी चलेगा।'


वहीं, शनिवार को उग्र किसानों पर काबू पाने के लिए पुलिस ने लाठीचार्ज किया था। इस दौरान प्रदर्शकारी किसानों ने पुलिस पर पथराव भी किया। प्रदर्शकारी किसानों की मांग है कि मौजूदा वक्त के हिसाब से उनकी जमीन का उचित मुआवजा दिया जाए। हालांकि, जिलाधिकारी देवेंद्र पांडेय का कहना है कि किसानों को मुआवजा दिया जा चुका है, प्रशासन के पास किसानों का कोई बकाया नहीं है।


टेनिस खिलाड़ी रोजर फाइनल से बाहर

लंदन। 20 बार के ग्रैंड स्लैम विजेता रोजर फेडरर को हराकर ग्रीस से युवा टेनिस खिलाड़ी स्टीफानोस सितसिपास ने एटीपी फाइनल्स से बाहर कर दिया है। 21 वर्षीय सितसिपास ने शानदार प्रदार्शन करते हुए फेडरर को सीधे सेटों में 6-3, 6-4 से मात दी। प्रतियोगिता के फाइनल में उनका मुकाबला अब आस्ट्रिया के डोमिनिक थीम से होगा।


सितसिपास वर्ष 2009 के बाद से इस प्रतियोगिता के फाइनल में पहुंचने वाले सबसे युवा खिलाड़ी हैं। 2009 में जुआन मार्टिन डेल पोट्रो ने टूर्नामेंट के फाइनल में जगह बनाई थी। इस टूर्नामेंट में 2002 के बाद ऐसा मौका आया है जब फेडरर, जोकोविक या नडाल में से कोई भी फाइनल मैच में नहीं खेल रहा है। आस्ट्रिया के डोमिनिक थीम ने कहा कि "फाइनल में मुझे लगता है कि खिलाड़ियों के बैकहैंड के बीच कड़ा मुकाबला होगा। हम दोनों अटैकिंग खिलाड़ी हैं, उन्हें खेलते हुए देखकर बहुत आनंद आता है। मुझे सितसिपास को खेलते हुए देखना बहुत पसंद है और मैं उनका मुकाबला करने के लिए उत्सुक हूं।


आईपीएस ने मुंडन कराकर बाल दान किए

कोच्चि। कैंसर रोगियों के चेहरे में मुस्कान (Smile in the face of cancer patients) लाने एक महिला पुलिस अफसर ने मुंडन करा लिया है। वरिष्ठ सिविल पुलिस अधिकारी ने कहा अगर मेरे बाल मुंडवाने (Shaved hair) से कैंसर से लड़ रहे बच्चों की जिंदगी में मुस्कान लाया जा सकता है तो यह मेरे लिए खुशी की बात है। इस महिला पुलिस अफसर की तस्वीरें और वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रही हैं।


जानकारी के अनुसार पुलिस अफसर अपर्णा लवकुमार (Police officer Aparna Lovekumar) ने कुछ दिनों पहले ही त्रिचूर के एक ब्यूटी पार्लर (A beauty parlor of trichur) में अपना मुंडन कराया और अपने लंबे बाल त्रिचूर के कैंसर रिसर्च सेंटर को दान कर दिए। यहां पर गरीब कैंसर रोगियों के लिए विग (नकली बाल) बनाने का काम किया जाता है. उन्होंने कहा कि प्राकृतिक बालों से बने विंग काफी महंगे आते हैं। इसे खरीदना हर किसी के बस की बात नहीं होती। आर्टिफिशल बालों से बने विग से मरीजों को कई तरह की एलर्जी होती है। ऐसे में प्राकृतिक बालों से बने विग का इस्तेमाल कर उनकी पेरशानी कम की जा सकती है।


पुलिस अधिकारी अपर्णा लवकुमार
बतादे कि अपर्णा के अनुसार उन्होंने 70 सेंटीमीटर लंबे अपने बालों को काटने से पहले अपने वरिष्ठ अधिकारियों से अनुमति भी ली। उन्होंने कहा कि एक कैंसर पीड़ित बच्चे को देखने के बाद वह अपने आपको रोक नहीं सकीं और जल्द ही मुंडन कराने का फैसला ले लिया। जिस ब्यूटी पार्लर में अपर्णा ने अपना सिर मुंडवाया वहां किसी ने उनका वीडियो बना लिया जो अब सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है।


मृत बच्चे को अस्पताल ले गई बंदरिया

सीहोर। मध्य प्रदेश के सीहोर से एक मार्मिक और अजीबो-गरीब घटना सामने आई है। यहां एक बंदरिया अपने करंट से मरे बच्चे को लेकर पशु अस्पताल पहुंच गई। शहर के पुरानी जेल के बाहर लगे 11 केबी के तारो में झुलसकर जब एक बंदर जमीन पर गिरा तो वहां मौजूद उसकी मां ने उसे तत्काल उठाया और खींच-खींच कर वह अपने बच्चे को जिला पशु चिकित्सालय तक ले आई। इसके बाद बंदरिया मृतक बंदर को लेकर काफी देर तक पशु चिकित्सालय के गेट के ऊपर बैठ रही।


पहले किसी भी व्यक्ति की उसके पास जाने की हिम्मत नहीं हो पा रही थी। जब पशु चिकित्सा के डाक्टरों को यह माजरा समझ आया तो उन्होंने जैसे-तैसे इस मृत बंदर का शव कब्जे में लिया और उसका परीक्षण किया। परीक्षण में पता चला कि बंदर का बच्चा मर गया है।


जिला पशु अस्पताल के वरिष्ठ पशु चिकित्सक एस के श्रीवास्तव ने कहा कि ये अपने आप में पहला ऐसा मामला है जब कोई जानवर अपने बच्चे को लेकर अस्पताल पहुंचा हो। उन्होंने बताया कि जब बंदरिया के गुस्से में होने की वजह से कोई उसके पास नहीं जा पा रहा था लेकिन जब पब्लिक ने थोड़ा शोर-शराबा किया तो वह वहां से भागी और बच्चे के शव को कब्जे में लिया जा सका। डॉ. श्रीवास्तव ने कहा कि बंदर के बच्चे का शरीर करंट लगने से बुरी तरह जल चुका था।


गोरखपुर में नाबालिग से सामूहिक दुष्कर्म

गोरखपुर। रेस्टोरेंट में काम करने वाली किशोरी को अगवा कर दो सहकर्मियों ने कौवाबाग कॉलोनी में दुष्कर्म किया। एसएसपी के निर्देश पर शाहपुर पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर आरोपितों को पकड़ लिया है। पीड़ित जिला अस्पताल में भर्ती है।
किराए के मकान में मां-बाप के साथ रहती है किशोरी
महराजगंज जिले के श्यामदेउरवा क्षेत्र की रहने वाली 15 वर्षीय किशोरी गोरखनाथ इलाके में मां-बाप के साथ किराये पर रहती है। कोतवाली क्षेत्र में स्थित एक रेस्टोरेंट में वह नौकरी कर रही थी। बुधवार देर रात घर छोड़ने के बहाने दो सहकर्मियों ने अपनी स्कूटी पर बैठा लिया। शाहपुर के कौआबाग रेलवे कालोनी में सुनसान स्थान पर ले गए। आरोप है कि जबरन शराब पिलाने के बाद आरोपितों ने उससे दुष्कर्म किया। वारदात के बाद मुंह बंद रखने की धमकी दी और उसे कमरे पर छोड़ने के लिए निकले। लेकिन रास्ते में पुलिस ने उन्हें पकड़ लिया।
पुलिस ने नहीं की मदद
जानकारी मिलने पर पहुंचे रेस्टोरेंट मालिक ने उन्हें छुड़ाया और किशोरी को घर पहुंचाया। पीड़ित ने अगले दिन परिजनों को घटना की जानकारी दी। इसके बाद वे कोतवाली थाने पहुंचे। आरोप है कि पुलिस ने मदद नहीं की। मामला शाहपुर इलाके का बताकर वहां भेज दिया। जब वे शाहपुर पहुंचे तो वहां बाल दिवस का कार्यक्रम चल रहा था। उनको अगले दिन बुलाया गया। शुक्रवार को परिजन एसएसपी से मिले तब जाकर केस दर्ज हुआ। एसपी सिटी डॉ. कौश्तुभ ने बताया कि किशोरी का चिकित्सकीय परीक्षण के लिए भेजा गया है।
तहरीर और बयान में है अंतर
तहरीर में किशोरी से सामूहिक दुष्कर्म होने की बात लिखी गई है। लेकिन पुलिस को दिया गया बयान तहरीर से अलग है। इसकी वजह से पुलिस ने आरोपितों को गिरफ्तार नहीं किया है। मेडिकल रिपोर्ट व कोर्ट में होने वाले बयान का इंतजार किया जा रहा है।
सिपाहियों ने थानेदार व चौकी प्रभारी को बताए बिना छोड़ दिया
कौवाबाग कॉलोनी से निकलने के बाद आरोपित युवक बदहवास हाल में किशोरी को स्कूटी पर बीच में बैठाकर घर छोडऩे ले जा रहे थे। गश्त रहे सिपाहियों ने रास्ते में उन्हें पकड़ लिया। जानकारी होने पर पहुंचे रेस्टोरेंट मालिक ने पुलिसकर्मियों को मैनेज कर तीनों को छुड़ाया और किशोरी को घर पहुंचाया। जिसकी जानकारी थानेदार व चौकी प्रभारी को नहीं हुई।
...तो घटना के दिन ही पकड़े जाते आरोपी
कौवाबाग चौकी के सिपाही रात में कॉलोनी में गश्त कर रहे थे। स्कूटी पर बीच में किशोरी को बैठाकर ले जा रहे युवकों को देख उन्होंने रोक लिया। बदहवास किशोरी को देख मामला उन्हें समझ में आ गया। जिसके बाद तीनों को चौकी पर बैठा लिया। युवकों ने इसकी जानकारी रेस्टोरेंट मालिक को दी। रात में वह चौकी पर पहुंचे। पुलिसकर्मियों से बातचीत कर तीनों को छुड़ाया। जिसकी जानकारी थानेदार व चौकी प्रभारी को भी नहीं हुई। थानाध्यक्ष शाहपुर अरुण पंवार ने बताया कि बुधवार की रात में हुई घटना की जानकारी उनको नहीं है। सीओ गोरखनाथ प्रवीण सिंह ने बताया कि मामले की जांच चल रही है। दोषियों पर कार्रवाई होगी।


सड़क हादसे में परिवार के पांच सदस्यों की मौत

इंदौर। बड़वानी के पास हुए एक सड़क हादसे में एक ही परिवार के 5 सदस्यों की मौत हो गई। मृतक परिवार एक शादी समारोह में शामिल होने अंजड़ से कसरावद जा रहा था।


जानकारी के अनुसार बड़वानी के मंडवाड़ा के पास कार (MP 09 CB 2111) और ट्राले के मध्य आमने सामने से जोरदार भिड़त हो गई। हादसे में कार ट्राले के नीचे दब गई जिससे कार में सवार एक ही परिवार के 5 सदस्यों की मृत्यु हो गई। हादसे की सूचना मिलने पर मौके पर पहुंची पुलिस ने ग्रामीणों की मदद से मृतक व घायलों को कार से बाहर निकाला। हादसे में एक बच्ची घायल है जिसे उपचार के लिए जिला अस्पताल में भर्ती किया गया है। कार में सवार व्यक्ति अंजड़ के राजपुर रोड निवासी मिर्जा परिवार के बताए जा रहे है। यह परिवार कसरावद एक शादी समारोह में शामिल होने जा रहे थे।


छात्रसंघ अध्यक्ष गिरफ्तारी के खिलाफ आक्रोश

नैनीताल। एसएसजे परिसर अल्मोड़ा के छात्रसंघ अध्यक्ष दीपक उप्रेती को गिरफ्तार करने के विरोध में पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष मोहित रौतेला व एबीवीपी के नैनीताल नगर प्रमुख मोहित लाल साह के नेतृत्व में रविवार को छात्रों ने अल्मोड़ा परिसर व अल्मोड़ा पुलिस प्रशासन का पूतला फूंक कर नारेबाजी की।


इस अवसर पर डीएसबी परिसर नैनीताल के पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष मोहित रौतेला ने कहा कि एसएसजे परिसर अल्मोड़ा के छात्रसंघ अध्यक्ष दीपक उप्रेती ने परिसर प्रशासन के समक्ष छात्रों की समस्याएं रखी जिसे प्रशासन पूर्ण नही कर सका। इसके लिए छात्रसंघ अध्यक्ष दीपक उप्रेती ने दुबारा आन्दोलन किया। आंदोलन स्थल पर परिसर निदेशक व अन्य शिक्षकों ने पहुंच कर छात्रसंघ अध्यक्ष दीपक उप्रेती पर अरापत्तिजनक टिप्पणी की। जिससे आहत होकर छात्रसंघ अध्यक्ष दीपक उप्रेती ने आत्मदाह जैसा कृत्य किया। इस बीच बचाव करने पर पैट्रोल के छिटे निदेशक पर भी पड़ गये।


परिसर निदेशक व अन्य शिक्षकों ने उप्रेती पर गलत आरोप लगा कर उसे गिरफ्तार करवा दिया। छात्र नेताओं ने कहा कि अगर जल्द ही झूठे मुकदमें वापस नही लिया गया तो विवि व परिसर में आंदोलन शुरू कर दिया जायेगा। जिसकी जिम्मेदारी विवि प्रशासन की होगी।



72 घंटे में 'धान' के भुगतान के आदेश

किसानों को 72 घंटे के अंदर हर हाल मे करें भुगतान:डीएम


तारकेशवर मिश्रा


अमेठी। जिलाधिकारी अरुण कुमार की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभागार में धान खरीद की बैठक आयोजित की गई। बैठक में डीएम ने सभी केंद्र प्रभारियों को सुबह 9:00 बजे केंद्र खोलने तथा उपस्थित रहने के निर्देश दिए। 


जिलाधिकारी ने कहा कि किसानों का भुगतान 72 घंटे के अंदर आरटीजीएस के माध्यम से हर हाल में हो जाना चाहिए, यदि किसी कारणवश किसानों का भुगतान 72 घंटों के अन्दर नहीं हो पाता है तो जिला खाद्य विपणन अधिकारी, जिला प्रबंधक पीसीएफ और संबंधित केंद्र प्रभारी बैंक से समन्वय कर समय से भुगतान कराना सुनिश्चित करेंगे।जिलाधिकारी ने कहा कि किसी भी किसान को धान क्रय केंद्र से वापस न करें, पंजीकृत किसानों का ही धान क्रय करें। जिलाधिकारी ने किसानों से अपील करते हुए कहा कि अधिक से अधिक किसान भाई अपना पंजीकरण करवाकर सरकारी क्रय केंद्र पर ही धान बेचे। उन्होंने सभी केंद्रों पर इलेक्ट्रॉनिक कांटा, छन्ना, नमी माप करने वाली मशीन, किसानों के बैठने के लिए जगह, बोरे और पर्याप्त मात्रा में धनराशि की उपलब्धता सुनिश्चित करने के निर्देश डिप्टी आरएमओ  और जिला प्रबंधक पीसीएफ को दिया। बैठक में सूचना के बावजूद भी अनुपस्थित रहने पर  जिला प्रबंधक पीसीएफ मीनाक्षी यादव को  कठोर चेतावनी देते हुए  स्पष्टीकरण प्राप्त करने के निर्देश दिए। 


जिला खाद्य एवं विपणन अधिकारी वीसी गौतम ने बताया कि जनपद में कुल 51 धान क्रय केंद्र बनाए गए हैं, इस वर्ष शासन द्वारा जनपद का लक्ष्य 94300 एमटी निर्धारित किया गया है, जिसके सापेक्ष अभी तक 350 एमटी की खरीद की जा चुकी है। उन्होंने कहा कि किसान भाई अपनी किसी भी प्रकार की समस्या या सुझाव हेतु कंट्रोल रूम नंबर 9415885533 पर सम्पर्क कर सकते हैं।


सूचना कर्मचारी संघ, कार्यकारिणी का चुनाव

देहरादून। आज सूचना भवन, स्थित सभागार में उत्तराखण्ड सूचना कर्मचारी संघ के प्रांतीय अधिवेशन का आयोजन किया गया। अधिवेशन का शुभारंभ मुख्य अतिथि अपर निदेशक सूचना डाॅ. अनिल चन्दोला, संयुक्त निदेशक आशिष त्रिपाठी द्वारा संयुक्त रूप से दीप प्रज्वलित कर किया गया।
अधिवेशन को सम्बोधित करते हुए अपर निदेशक डाॅ. अनिल चन्दोला ने कहा कि विभाग द्वारा संघ को पूरा सहयोग प्रदान किया जायेगा। डाॅ. चन्दोला ने कहा कि संघ द्वारा रचनात्मक कार्यों में भी योगदान दिया जाय। विभागीय कार्मिकों की सहायता के लिए कर्मचारी कल्याण कोष की स्थापना की जाय, जिसमें प्रत्येक अधिकारी/कर्मचारी द्वारा प्रतिमाह अंशदान जमा किया जाय। डाॅ. चन्दोला ने अपने वेतन से रुपये 1100/- का अंशदान प्रतिमाह जमा कराने की घोषणा की। डाॅ. चन्दोला ने कहा कि संघ मजबूत होगा, तो विभाग भी मजबूत होगा। उन्होंने कहा कि आज के समय मेें विभाग के सामने काफी चुनौतियां है, जिनका सामना करने के लिए नई तकनीक और दक्ष मानव संसाधन की आवश्यकता होगी। उन्होंने आश्वासन दिया कि उत्तराखण्ड कर्मचारी संघ द्वारा विभाग हित में जो भी प्रस्ताव रखा जायेगा, उस पर सकारात्मक कार्यवाही की जायेगी।


संयुक्त निदेशक राजेश कुमार ने कहा कि सूचना विभाग की मजबूती के लिए जरूरी है कि संघ भी मजबूत रहे। उन्होंने सभी कर्मचारियों से अपेक्षा की कि संघ के माध्यम से विभागीय हित में कार्य करेंगे। संयुक्त निदेशक, श्री आशिष त्रिपाठी ने कहा कि संघ में ही शक्ति है, लेकिन शक्ति का सही उपयोग कैसे करना है, इसके लिए भी संघ को ही सोचना होगा। उन्होंने कहा कि संघ के माध्यम से सकारात्मक रूप से कार्मिकों के हितो को रखा जाय। विभाग कार्मिकों के हितों के प्रति सदैव सजग है।
अधिवेशन की अध्यक्षता करते हुए श्री भुवन चन्द्र जोशी ने कहा कि संघ का उद्देश्य कार्मिकों के हितों को विभाग तक पहुंचाना है। उन्होंने कहा कि वर्तमान समय में विभाग में कार्मिकों की अत्याधिक कमी है, जिसके लिए संघ के माध्यम से उच्च स्तर पर वार्ता की जायेगी। अधिवेशन को श्री एल.पी.भट्ट, श्री यमुना प्रसाद व्यास, श्री शेखर चन्द्र जोशी, श्री कीर्ति पंवार, श्री चन्द्र सिंह तोमर, श्री अंकित चैहान सहित अन्य कर्मचारियों द्वारा भी सम्बोधित किया गया।
अधिवेशन के द्वितीय सत्र में नई कार्यकारिणी का चुनाव निर्विरोध किया गया। चुनाव अधिकारी  गोपाल सिंह राणा द्वारा चुनाव प्रक्रिया को सम्पन्न कराया गया। सर्वसम्मत्ति से निर्विरोध रूप से नई कार्यकारिणी चुनी है, जो इस प्रकार है:-
1 अध्यक्ष श्री भुवन चन्द्र जोशी,
2 उपाध्यक्ष श्रीमती सुषमा
3 महामंत्री श्री सुरेश चन्द्र भट्ट
4 संयुक्त मंत्री श्री प्रशांत रावत
5 संगठन मंत्री श्री चेतन पाण्डेय and श्री अंकित चैहान
6 कोषाध्यक्ष श्री राकेश कुमार धीमान
7 संयोजक/आॅडिटर श्री प्रमोद तिवारी
8 प्रचार मंत्री श्री बहादुर सिंह कन्याल
9 कार्यकारिणी सदस्य श्री रामपाल सिंह रावत
10 कार्यकारिणी सदस्य श्री गिरीजाशंकर जोशी
11 कार्यकारिणी सदस्य श्री रणजीत सिंह बुदियाल
12 कार्यकारिणी सदस्य श्री दीपेन्द्र सिंह रावत
13 कार्यकारिणी सदस्य श्री मनोज कुमार सती
14 कार्यकारिणी सदस्य श्री सुनील तोमर
15 कार्यकारिणी सदस्य श्रीमती पारूल
16 कार्यकारिणी सदस्य श्रीमती संतोषी नेगी
17 कार्यकारिणी सदस्य श्री विपिन चंद्र
18 कार्यकारिणी सदस्य श्री रामसिंह परजोली
       संघ के नवनिर्वाचित महामंत्री सुरेश चन्द्र भट्ट ने बताया कि नई कार्यकारिणी द्वारा एक स्वर में संकल्प लिया गया कि विभागीय कार्मिकों से संबंधित मुद्दों पर कार्यवाही किये जाने हेतु उच्च स्तर पर वार्ता की जायेगी। जल्द ही एक मांग पत्र तैयार कर उच्चाधिकारियों को दिया जायेगा। विभाग से यह भी मांग की जायेगी कि जल्द से जल्द विभाग का पुनर्गठन किया जाय। साथ ही वर्षोे से एक ही पद पर कार्यरत कार्मिकों को पदोन्नति के अवसर प्रदान किये जाय। जनपदीय कार्यालयों में ढांचा बढ़ाया जाय। इसके लिए विकासखण्ड स्तर तक सूचना केन्द्र की स्थापना की जाय। इस अवसर पर विभाग के समस्त अधिकारीगण/कार्मिक उपस्थित थे।


आतंकियों का सफाया करेगी 'रोबो आर्मी'

श्रीनगर। भारतीय सेना ने कश्मीर घाटी में आतंक के समूल नाश के लिए अपनी रोबो आर्मी को उतारने की तैयारी कर ली है। यह रोबोट आतंकियों के गुप्त ठिकाने में घुसकर न केवल उनकी सही स्थिति बताएंगे बल्कि उसे तबाह भी करने में भी सक्षम होंगे। खास बात यह है कि यह रोबो आर्मी इसी माह के अंत तक यहां उतार दी जाएगी। यह रोबोट आतंक प्रभावित क्षेत्रों में सेना की आतंकरोधी यूनिट और सुरक्षाबलों के लिए सहायक सिद्ध होंगे। इसके साथ ही सेना को पूरी तरह से हाईटेक बनाने के कार्य में भी गति आ जाएगी। इतना ही नहीं दुश्मन की घुसपैठ को विफल बनाने और पाकिस्तानी सेना के हमलों को नाकाम बनाने के लिए यह रोबोट काफी कारगर सिद्ध होंगे।
रोबोट आतंकरोधी अभियान में भी रहेंगे सहायक  संबधित अधिकारियों ने बताया की सेना को बदलते परिवेश की आवश्यक्ताओं के अनुरूप अत्याधुनिक बनाने का प्रयास चल रहा है। इसी के तहत रक्षा मंत्रालय पहले चरण में 550 रोबोटिक्स सर्वेलांस यूनिट खरीद रहा है और इन्हें जल्द सेना को सौंपने की तैयारी है। संबधित अधिकारियों ने बताया कि यह रोबोट किसी भी आतंकरोधी अभियान के दौरान आतंकियों पर हमला भी करने में सहायक होंगे।
आतंकियों की सही लोकेशन पता करने में करेगा मदद  सुरक्षा बलों के लिए आतंकियों के खिलाफ कार्रवाई में सबसे बड़ी चुनौती उनकी सही संख्या और उन के पास उपलब्ध हथियारों की पूरी जानकारी लेने की होती है। यह रोबोट ऑपरेशन के दौरान किसी भी मकान या अन्य आतंकी ठिकाने में आसानी से घुसकर वहां की गतिविधियों का पूरा ब्योरा लेने में सक्षम होगा। इसके अलावा वीडियोग्राफी के माध्यम से आतंकियों की सही लोकेशन पता करने में मदद करेगा। प्रत्येक यूनिट में एक लांचिंग सिंस्टम, एक ट्रांसमिशन सिस्टम और दिन-रात तस्वीरें लेने में समर्थ एचडी कैमरा भी होगा। यह किसी भी मकान या इमारत से करीब 200 मीटर की दूरी तक स्पष्ट वीडियो फुटेज भी भेज सकते हैं।
जवानों को दिया जाएगा प्रशिक्षण  यह रिमोट नियंत्रण रेखा पर निगरानी और फिर उसके आसपास ऐसी किसी जगह पर छानबीन कर सकते हैं जहां घुसपैठियों या पाकिस्तान के बैट दस्ते के छिपे होने की आशंका हो। ऐसे में नियंत्रण रेखा पर पाकिस्तान की हर चाल से निपटने में सेना की अग्रिम पंक्ति के लड़ाके साबित हो सकते हैं। रोबोटिक्स सर्वेलांस यूनिट को संचालित करने के लिए सैन्याधिकारियों को विशेष प्रशिक्षण दिया जाना है। सेना की प्रत्येक बटालियन में सात से आठ अधिकारियों व जवानों को इसका प्रशिक्षण दिया जाएगा। सेना अधिकारियों ने बताया कि अगले चरण में सेना दुश्मन के घर में घुसकर मार करने में सक्षम रोबोटिक युद्धक वाहन (आरसीवी) खरीदने पर भी विचार कर रही है। रिमोट से संचालित होने वाले युद्धक वाहन भारतीय सेना की ताकत को और आधार देंगे। लक्ष्य है कि 2030 तक भारतीय सेना को दुनिया की सबसे घातक व समर्थ सेना बनाया जाए।
360 डिग्री घूमकर निशाना बनाने में सक्षम यह रोबोट करीब 25 साल तक सेवा में उपलब्ध रहेंगे। सबसे पहले इन्हें जम्मू कश्मीर के आतंक प्रभावित क्षेत्रों में तैनात किया जाएगा। ये आतंकरोधी अभियानों में सुरक्षाबलों को होने वाले नुकसान से भी बचाएंगे। यह इतने चपल होंगे कि जवाबी कार्रवाई के लिए 360 डिग्री घूमकर भी निशाना बना सकते हैं।
सीढ़ी चढ़ने और ग्रेनेड फेंकने में भी होगा सक्षम सेना का यह नया लड़ाका तमाम अवरोधकों को पार कर लक्ष्य को हर हाल में निशाना बनाने में सक्षम होगा। इसके अलावा किसी जगह विशेष की वीडियोग्राफी करके वहां के हालात के बारे में तुरंत अपडेट करने की दक्षता इसमें है। यह रोबोट सीढ़ी चढ़ने, बम धमाकों व गोलाबारी के दौरान लगने वाले झटकों को सहने में समर्थ है।
पानी में भी रह सकता है ये लड़ाकू रोबोट पानी के नीचे 20 मीटर की गहराई तक भी काम कर सकते हैं। पानी के भीतर से ही यह ग्रेनेड को निर्धारित लक्ष्य पर दाग कर वहां से तुरंत लौट सकते हैं।


सरकार के खिलाफ आदिवासियों का नंगे पांव मार्च

रायपुर। छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में आज भले ही आप रविवार को वीकेंड के तौर पर मनाने में डूबे हों, लेकिन छत्तीसगढ़ के आदिवासी सैकड़ों की तादाद में इस दोपहर भरी धूप के बाद भी नंगे पांव घूम-घूम कर अपनी मांगों को लेकर पद यात्रा निकालने में लगे हैं। दरअसल सरकार द्वारा आदिवासियों और जंगल वासियों के अधिकारों पर नीतिगत हमले के विरोध में छत्तीसगढ़ के आदिवासियों ने 11 से 18 नवंबर तक मानपुर राजनांदगांव से रायपुर तक की पदयात्रा का ऐलान किया था और आज आदिवासियों की पदयात्रा रायपुर प्रवेश कर चुकी है।
इस वन स्वराज पदयात्रा में युवाओं, महिलाओं के साथ ही काफी तादाद में बुजुर्ग आदिवासी भी सम्मिलित हुए हैं। वन स्वराज पदयात्रा में शामिल होने वाले आदिवासी एक सुर में सरकार के नीतिगत फैसलों का विरोध कर रहे हैं वहीं सरकार के कई आदिवासी मंत्रियों पर दलाली का भी आरोप लगा रहे हैं। नंगे पांव सरकार के पास पहुंच करी आदिवासी अपनी मांगों को लेकर आवाज मुखर कर रहे हैं और कह रहे हैं कि उनकी आवाज को सुनना पड़ेगा, वे इस दमन को बर्दाश्त नहीं करेंगे।
राज्यपाल से मुलाकात की तैयार: वन स्वराज पदयात्रा में शामिल होने वाले कार्यकर्ताओं ने बताया कि उनकी मुलाकात प्रदेश के राज्यपाल से कल होने वाली है। इस दौरान वो प्रदेश के संवैधानिक प्रमुख को अपनी मांगों और अपनी समस्याओं से अवगत कराएंगे, वहीं आदिवासियों के मामलों को लेकर राज्यपाल से गुहार लगाई जाएगी।


वन अधिकार संघर्ष समिति राजनांदगांव के बैनर तले यह पूरी पदयात्रा और रैली निकाली जा रही है। जिसमें काफी तादाद में 'आरपार को हैं तैयार, लेकर रहेंगे वन अधिकार' के नारे के साथ सैकड़ों की तादाद में आदिवासी रायपुर कूच कर चुके हैं। साथ ही वनाधिकार संघर्ष समिति राजनांदगांव और सभी जन संगठनों ने इस पदयात्रा में शामिल होने के लिए प्रदेशभर के आदिवासियों से अपील की है।


ओवैसी और बगदादी में अंतर नहीं: वसीम

नई दिल्ली। शिया वक्फ बोर्ड के प्रमुख वसीम रिजवी ने शनिवार को एआईएमआईएम सांसद असदुद्दीन ओवैसी की तुलना आतंकी संगठन आईएस के सरगना रहे अबु बकर-अल बगदादी से की। उन्होंने कहा कि आज ओवैसी और बगदादी में कोई अंतर नहीं रहा। ओवैसी ने कहा था कि अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट के फैसले से वे संतुष्ट नहीं हैं। इसी पर रिजवी ने प्रतिक्रिया दी। बगदादी इसी साल 26 अक्टूबर को अमेरिकी सेना की कार्रवाई में मारा गया था।
रिजवी ने कहा, ''आज ओवैसी और बगदादी में कोई अंतर नहीं रहा। बगदादी आतंक फैलाने के लिए सेना, हथियार और गोला-बारूद इस्तेमाल करता था, जबकि ओवैसी अपनी जुबान के जरिए आतंक फैलाने का काम करते हैं। वह मुस्लिमों को आतंकी गतिविधियों के लिए उकसाते हैं। ऐसे गंभीर माहौल में ओवैसी और मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड को प्रतिबंधित कर दिया जाना चाहिए।''
'ओवैसी दूसरे जाकिर नाइक बन रहे'
केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो ने कहा, ''असदुद्दीन ओवैसी दूसरे जाकिर नाइक बन रहे हैं। अगर वह जरूरत से ज्यादा बोलेंगे, तो देश में कानून-व्यवस्था से जुड़ी समस्या खड़ी हो सकती है।'' नफरत फैलाने वाला भाषण देने और मनी लॉन्ड्रिंग के मामले में आरोपी जाकिर को सरकार मलेशिया से भारत लाने की कोशिश कर रही है।
ओवैसी के खिलाफ शिकायत दर्ज
अयोध्या मामले में फैसले के बाद ओवैसी ने कहा था, ''सुप्रीम कोर्ट सबसे ऊपर है, लेकिन वह अचूक नहीं है। मैं इस फैसले से संतुष्ट नहीं हूं। हमें संविधान पर पूरा विश्वास है। हम अपने अधिकारों के लिए लड़ते रहेंगे। हमें दान में दी गई पांच एकड़ जमीन नहीं चाहिए।'' इस बयान के बाद 11 नवंबर को ओवैसी के खिलाफ शिकायत भी दर्ज कराई गई थी।


शीतकालीन-सत्र: सर्वदलीय बैठक में 'मोदी'

मोदी सर्वदलीय बैठक में शामिल हुए, शीतकालीन सत्र से शिवसेना विपक्ष में बैठेगी
नई दिल्ली। संसद का शीतकालीन सत्र 18 नवंबर से 13 दिसंबर तक चलेगा। महाराष्ट्र में अपना मुख्यमंत्री बनाने के लिए एनडीए से अलग हुई शिवसेना अब विपक्ष में बैठेगी। शनिवार को सूत्रों ने बताया कि शिवसेना के सांसद संजय राउत और अनिल देसाई के लिए इसी सत्र से राज्यसभा में बैठक व्यवस्था बदली जाएगी। राउत ने कहा है कि शिवसेना सत्र से पहले एनडीए की किसी बैठक में शामिल नहीं होगी। इसबीच, लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला ने सर्वदलीय बैठक बुलाई, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी इसमें शामिल हुए।
केंद्र सरकार शीतकालीन सत्र में गैर-मुस्लिम शरणार्थियों को भारतीय नागरिकता देने के उद्देश्य से नागरिकता (संशोधन) विधेयक समेत कई अहम बिल पेश करेगी। नागरिकता कानून में बदलाव के जरिए सरकार बांग्लादेश, पाकिस्तान और अफगानिस्तान से धार्मिक उत्पीड़न के बाद भारत आकर बसे गैर-मुस्लिमों जैसे- हिंदू, सिख, बौद्ध, जैन और पारसी समुदाय के लोगों को स्थाई नागरिकता देना चाहती है।
विपक्षी नागरिकता विधेयक के विरोध में है 
मोदी सरकार ने पिछले कार्यकाल में भी नागरिकता विधेयक को संसद में पेश किया था, लेकिन विपक्षी दलों के विरोध के कारण इसे आगे नहीं बढ़ाया जा सका। विपक्षी दलों ने धार्मिक आधार पर भेदभाव के रूप में बिल की आलोचना की थी। यह बिल जनवरी में लोकसभा से पारित हो गया था, लेकिन राज्यसभा से पारित नहीं हो पाया था। बिल को लेकर असम और अन्य पूर्वोत्तर राज्यों ने आपत्ति जताई थी और कई शहरों में विरोध प्रदर्शन हुए थे।
6 साल भारत में गुजारने वालों को भी नागरिकता मिलेगी
नागरिकता बिल के जरिए 1955 के कानून को संशोधित किया जाएगा। इसमें नागरिकों को 12 साल की बजाय सिर्फ छह साल भारत में गुजारने और बिना उचित दस्तावेजों के भी भारतीय नागरिकता मिल सकेगी। पूर्वोत्तर के लोगों का विरोध है कि यदि यह बिल पास होता है तो इससे राज्यों की सांस्कृतिक, भाषाई और पारंपरिक विरासत खत्म हो जाएगी। इस बिल के माध्यम से 31 दिसंबर 2014 से पहले आए सभी लोगों को नागरिकता देने का प्रावधान है। जबकि असम समझौते के अनुसार 1971 से पहले आए लोगों को नागरिकता देने का प्रावधान था।


डींगे बड़ी-बड़ी,असल काम में सब चौपट

नई दिल्ली। कांग्रेस महासचिव प्रियंका वाड्रा ने प्रति व्यक्ति द्वारा खर्च की औसत राशि में गिरावट से जुड़ी खबर पर तंज कसते हुए कहा कि भाजपा के लोगों को डाटा नहीं, बल्कि गरीबी को किनारे लगाने पर ध्यान देना चाहिए। उन्होंने एक मीडिया रिपोर्ट का हवाला देते हुए ट्वीट किया, ''शेखचिल्ली के लतीफ़ों के बारे में खास बात ये थी कि डींगें बड़ी-बड़ी होती थीं, लेकिन असल काम में सब चौपट। भाजपा सरकार भी डींगें हांकने के लिए डाटा छिपाने में लगी है।'' 
प्रियंका ने दावा किया, '' तो बहनों-भाइयों नया डाटा कहता है कि लोग गरीब हो रहे हैं। लोगों की खर्च करने की क्षमता घट रही है। गांवों में लोगों के पास खाने पर खर्च करने के पैसे भी कम हो रहे हैं।'' उन्होंने कटाक्ष करते हुए कहा, ''भाजपा वालों, डाटा को किनारे मत लगाओ, गरीबी को किनारे करो।'' कांग्रेस महासचिव ने जिस मीडिया रिपोर्ट का हवाला दिया है उसमें राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय (एनएसओ) के आंकड़े का जिक्र करते हुए कहा गया है कि भारत में 2011-12 में एक व्यक्ति द्वारा खर्च की गई औसत राशि 1501 रुपये थी, जो 2017-18 में 3.7 फीसदी की गिरावट के साथ 1446 रुपये हो गई।


'जिला-जज' के बंगले से चुराये चार पेड़

रीवा। जिला एवं सत्र न्यायाधीश के बंगले पर तैनात सुरक्षाकर्मी को गुरुवार की रात में पिस्तौल का भय दिखाकर चोर वहां से चन्दन के चार पेड़ (sandalwood tress)  काटकर ले गए। नगर पुलिस अधीक्षक शिवेन्द्र सिंह ने शनिवार को बताया कि 15 नवंबर की रात को चोर जिला एवं सत्र न्यायाधीश अरुण कुमार सिंह के बंगले में लगे चंदन के चार पेड़ों को काट कर ले गए।


बंगले में सो रहे थे न्यायाधीश और परिवार के सदस्य 


एसपी ने बंगले पर तैनात पुलिसकर्मी बुद्धिलाल की शिकायत के आधार पर बताया कि सिविल लाइंस स्थित बंगला नंबर चार में रात साढ़े तीन से चार के बीच एक व्यक्ति अंदर घुसा और उसे पिस्तौल का भय दिखाया। इसके बाद उसके चार और साथी भी अंदर आ गए। चोरों ने बुद्धिलाल को अपने कब्जे में ले लिया। इसके बाद चोरों ने 10 मिनट के अंदर चंदन के चार पेड़ काट लिए और वहां से फरार हो गए। उन्होंने बताया कि बंगले में सुरक्षा के लिए रात में चार पुलिसकर्मी तैनात थे जबकि घटना के वक्त न्यायाधीश सिंह और उनके परिवार के लोग घर में सो रहे थे। एसपी शिवेंद्र सिंह ने बताया कि पुलिस अज्ञात चोरों के खिलाफ मामला दर्ज कर उनकी तलाश में जुटी है। उन्होंने बताया कि एक किलोग्राम चंदन की लकड़ी की कीमत 500 रुपये होती है। इस प्रकार से चंदन के एक पेड़ की कीमत तीन से पांच लाख रुपये की होती है।


'दोस्त' की लाश के टुकड़े 'कुकर' में पकाएं

आगरा। उत्तर प्रदेश के आगरा जनपद में दिल दहला देने वाला मामला सामने आया है। एक व्यक्ति ने दोस्त को पहले अगवा कर लिया। मकसद था 50 लाख की फिरौती। फिरौती मांगते इससे पहले ही पीड़ित की दम घुटने से मौत हो गई। फिर शव के टुकड़े करके अंगों को प्रेशर कुकर में पका दिया।


पुलिस ने बताया कि आगरा के किरावली निवासी धर्मेंद्र तिवारी कंप्यूटर ऑपरेटर था। 18 अक्टूबर को रहस्यमयी स्थिति में वह लापता हो गया। काफी खोजबीन के बाद जब पता नहीं चला तब धर्मेंद्र के पिता ने अछनेरा थाने में गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई।पुलिस की खोजबीन में पता चली कि धर्मेंद्र को आखिरी बार ललित नाम के युवक के साथ देखा गया था। यह वीडियो फुटेज सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। फिर ललित की पहचान हो गई। इसके बाद पुलिस ने बिचपुरी मार्ग पर मंगोलिया कॉलोनी में ललित बोदला के घर पहुंची। ललित अपनी मां शालिनी और भाई रोहित के साथ रहता है। पुलिस ने तीनों को हिरासत में ले लिया।


पुलिस ने दोनों से जब कड़ाई से पूछताछ की तो ऐसा खुलासा हुआ कि हर सुनने वाले की रूह कांप गई। ललित ने अपना कर्ज उतारने के लिए 50 लाख फिरौती वसूलने के लिए धर्मेंद्र का अपहरण कर लिया था। ललित ने धर्मेंद्र को किसी बहाने से अपने घर बुलाया. कॉफी में कुछ मिलाकर पिला दिया। इसके बाद इंजेक्शन लगाकर बेहोश कर दिया। बाद में हाथ-पैर और मुंह टेप से बांधकर कमरे में बंद कर दिया। मुंह बंधा होने के कारण धर्मेंद्र की दम घुटने से मौत हो गई। ललित को जब यह पता चला तो उसे लगा कि उसकी फिरौती वसूलने की साजिश नाकाम हो गई है। इसके बाद उसे चिंता थी लाश को ठिकाने लगाने की।


फिर ललित ने धर्मेंद्र की लाश के छोटे-छोटे टुकड़े कर घर में ही रख दिए। आरोपी ने फिर टुकड़ों को कुकर में पकाया। शरीर के कई बड़े हिस्से को नाली में फेंक दिया। यहां तक की कंकाल को बैग में भरकर रख दिया। मामले का खुलासा होने के बाद पुलिस ने मंगोलिया कॉलोनी में ललित के घर की तलाशी ली। फोरेंसिक टीम से भी जांच कराई। पुलिस को यहां से कई अहम सुराग मिले।


घर के बाहर जमा पड़ोसियों ने पुलिस को बताया कि हर दिन घर से मीट पकाने की महक आती थी। लेकिन इस बात का अंदाजा नहीं था कि यहां किसी की लाश पकाई जा रही है। इस बात की पुष्टि नहीं हुई है कि मां-बेटे ने इंसानी गोश्त खाया है या नहीं। ललित ने 27 वर्षीय धर्मेंद्र की बाइक को मलपुरा क्षेत्र में लावारिस तौर पर छोड़ दिया था। 29 अक्टूबर को धर्मेंद्र की बाइक पुलिस को मिली थी। पुलिस छानबीन में पता चला था कि धर्मेंद्र और ललित आपस में अच्छे दोस्त थे। धर्मेंद्र और ललित दोनों पहले किराए के घर में एकसाथ रहते थे। इस दौरान ललित को यह पता चल गया था कि धर्मेंद्र पैसे से संपन्न परिवार से है। उसका अपहरण करेंगे तो अच्छी फिरौती मिलेगी। इसलिए अपहरण और फिरौती वसूलने की योजना तैयार की थी।


झटका:संसद में झूठ बोलने का मामला सिद्ध

लॉस एंजलिस। महाभियोग के आरोपों से घिरे अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को शुक्रवार को एक और बड़ा झटका लगा जब एक कोर्ट ने उनके सबसे लंबे समय तक सलाहकार रहे रोजर स्टोन को संसद की इंटेलीजेंस कमेटी के सामने झूठ बोलने, जांच में बाधा डालने और सुबूतों से छेड़छाड़ के मामले में दोषी करार दिया है। स्टोन को अगले साल छह फरवरी को सजा सुनाई जाएगी। उन्हें कई साल कैद की सजा हो सकती है। सात महिला और तीन पुरुष जजों की पीठ ने अमेरिका के 2016 के राष्ट्रपति चुनाव में रूसी हस्तक्षेप की जांच करने वाले विशेष अभियोजक रॉबर्ट मुलर की जांच बाद लंबित मामले में यह फैसला दिया है। यह सिर्फ 67 वर्षीय स्टोन के लिए झटका भर नहीं है, बल्कि एक प्रत्याशी के रूप में ट्रंप की भूमिका को भी दोबारा जांच के दायरे में ला दिया है। ट्रंप ने फैसले की निंदा की है। फ‍िलहाल, स्‍टोन सात आरोपों का सामना कर रहे हैं जिनमें उन्‍हें 50 साल तक की कैद हो सकती है।
बता दें कि अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में रूसी हस्तक्षेप से जुड़े मामलों की जांच से जुड़े इस मामले में स्टोन को इस साल जनवरी में गिरफ्तार किया गया था। जांच रिपोर्ट के मुताबिक ट्रंप के चुनाव प्रचार सहयोगी रहे स्टोन को साल 2016 की गर्मियों में ही पता चल गया था कि ट्रंप के खिलाफ राष्ट्रपति चुनाव लड़ रही हिलेरी क्लिंटन के प्रचार अभियान से ई-मेल चुराए गए थे। यही नहीं स्टोन पर अमेरिकी कांग्रेस के निचले सदन प्रतिनिधि सभा की खुफिया समिति के सामने कथित गलतबयानी के आरोप भी थे। उधर, अमेरिका में राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के महाभियोग की प्रक्रिया शुक्रवार को भी जारी रही। प्रतिनिधि सभा में दूसरी बार कैमरे के सामने हुई सुनवाई में यूक्रेन में अमेरिका की पूर्व राजदूत मैरी योवानोविच पेश हुईं। उन्हें ट्रंप के वकील रूडी गुलियानी के साथ मतभेदों के चलते मई में हटा दिया गया था। गुलियानी यूक्रेन में पूर्व राष्ट्रपति जो बिडेन के खिलाफ जांच शुरू कराने में सहयोग न करने के चलते मैरी से नाराज हो गए थे। यह जांच राष्ट्रपति ट्रंप को फायदा पहुंचा सकती थी।


भारी बर्फबारी से सेब-बादाम के पेड़ टूटे

श्रीनगर। कश्मीर में शनिवार को भारी बर्फबारी से जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया। पिछले कई दिनों से स्थिति में कोई सुधार नहीं है, जिसके कारण यहां सेब के पेड़ों को भी भारी नुकसान पहुंचा है। पुलवामा और शोपियां जिले की ऊंची पहाड़ियों में सेब के पेड़ों को ज्यादा नुकसान पहुंचा है, क्योंकि जब बर्फबारी हुई, उस वक्त पेड़ों पर फल लदे हुए थे।हाल ही में हुई बर्फबारी ने दक्षिण कश्मीर के पुलवामा और शोपियां जिलों में सेब के अधिकांश बागों को नुकसान पहुंचाया है। कश्मीर के प्रमुख सेब उत्पादक क्षेत्रों में से एक पुलवामा और शोपियां जिलों में उत्पादकों ने कहा कि भारी बर्फबारी ने सेब के पेड़ों को नुकसान पहुंचाया और उनकी डालियों को तोड़ दिया।
उन्होंने बताया कि नवंबर के महीने में बेमौसम बर्फबारी सामान्य बर्फबारी की तुलना में भारी थी और पेड़ की डालियों पर जमा होने के कारण वे ढह गईं। अधिकारियों ने स्वीकार किया है कि पिछले दो दिनों में हुई बर्फबारी से घाटी में स्थित अधिकतर सेब के बगीचों को नुकसान पहुंचा है। उनके अनुसार, बागवानी विशेषज्ञों की एक टीम को कुल नुकसान का आकलन करने का काम सौंपा गया है। शुरुआती रिपोर्टों से पता चलता है कि मैदानी इलाकों से 30 से 35 प्रतिशत नुकसान हुआ है, जबकि पहाड़ी क्षेत्रों में अभी भी पहुंचा नहीं जा सकता है। उल्लेखनीय है कि हाल ही में कश्मीर घाटी में हुई बर्फबारी ने घाटी के कई हिस्सों में तबाही मचाई है। इस बेमौसम बर्फबारी से सैकड़ों सेब, बादाम और बेर के पेड़ नष्ट हो गए हैं।


बालासाहेब ठाकरे की पुण्यतिथि, श्रद्धांजलि अर्पण

मुंबई। शिवसेना संस्थापक बाला साहेब ठाकरे की पुण्यतिथि पर रविवार को श्रद्धांजलि देने लाखों शिवसैनिक दादर के शिवाजी पार्क मैदान पहुंचे। यहां पुलिस का कड़ा बंदोबस्त किया गया है।
शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे सपरिवार यहां पहुंचेंगे। शिवसेना के तमाम बड़े नेताओं ने शिवतीर्थ स्थल पहुंचकर बाला साहेब को श्रद्धांजलि दी। एनसीपी के प्रदेश अध्यक्ष जयंत पाटिल और पार्टी नेता छगन भुजबल भी शिवाजी पार्क मैदान पहुंचे। भुजबल ने कहा कि बाला साहेब के साथ बिताए गए पुराने दिनों की याद आती है। सपने साकार होंगें। हमें सफलता अवश्य मिलेगी।
स्मृति स्थल पर फूलों की सजावट की गई है। भगवान राम की बड़ी तस्वीर के साथ जय श्रीराम का स्लोगन आकर्षण का केंद्र बना हुआ है। देशभर से शिवसैनिकों का जत्था शिवतीर्थ पर उमड़ा है। अन्य दलों के नेता भी शिवाजी पार्क मैदान पहुंच रहे हैं। भाजपा की ओर से कौन पहुंचता है और इस पर शिवसेना का क्या रुख होगा, इस पर सबकी नजर है। शिवतीर्थ पर पहुंचे शिवसैनिकों ने भाजपा के प्रति नाराजगी जताई है। हालांकि भाजपा ने ट्वीट कर बाला साहेब को श्रद्धांजलि दी गई है।
भाजपा का साथ छोड़कर शिवसेना पहली बार विपरीत विचारधारा वाली पार्टियों कांग्रेस और एनसीपी से हाथ मिलाने जा रही है। राज्य में सरकार गठन को लेकर तीनों दलों में मंथन जारी है। शिवसेना का दावा है कि मुख्यमंत्री शिवसेना का होगा। शिवसेना नेताओं की मांग है कि उद्धव सरकार की कमान संभालें। ऐसे में बालासाहेब ठाकरे का सातवां स्मृति दिन विशेष सुर्खियों में है।


गंगा-प्रदूषण:जुर्माना, कठोर सजा का प्रावधान

नई दिल्ली। गंगा में प्रदूषण को कम करने के लिए सरकार नया एक्शन प्लान लागू करने विचार कर रही है। सोमवार से शुरू हो रहे संसद के शीतकालीन सत्र दौरान सरकार राष्ट्रीय नदी गंगा (कायाकल्प, संरक्षण और प्रबंधन) विधेयक, 2019 को पेश कर सकती है। इसके तहत अब गंगा में प्रदूषण फैलाने पर पांच साल तक की सजा और 50 करोड़ रुपये तक का जुर्माना हो सकता है। गंगा को प्रदूषण से बचाने के लिए केंद्र सरकार एक खास तरह की पुलिस फोर्स बनाएगी। इसे 'गंगा प्रोटेक्शन फोर्स' नाम दिया जाएगा। फोर्स के के पास नियमों का उल्लंघन करने वाले शख्स को गिरफ्तार करने और स्थानीय पुलिस स्टेशन को सैंपने की पावर होगी। इसके अलावा नेशनल गंगा काउंसिल भी बनाया जाएगा, जो सीधा प्रधानमंत्री की देख रेख में होगा। पीएम के अलावा इस काउंसिल में उत्तराखंड, उत्तरप्रदेश, बिहार, झारखंड, पश्चिम बंगाल और झारखंड के मुख्यमंत्री भी शामिल होंगे।


जानकारी के मुताबिक, जलशक्ति मंत्रालय ने 13 चैपटर्स वाले बिल की रूपरेखा तैयार कर ली है। बिल को कैबिनेट की मंजूरी के लिए भी भेज दिया है। इसमें गैरकानूनी निर्माण कार्य, पानी के बहाव को रोकना, गंगा में गंदगी फैलाने जैसे कई प्रावधान शामिल किए गए हैं। इस विधेयक का उद्देश्य गंगा के प्रदूषण को रोकना और नियंत्रित करना है। इसके साथ ही पानी के निरंतर प्रवाह को सुनिश्चित करना है ताकि नदी को उसकी प्राकृतिक अवस्था में वापस लाया जा सके। गंगा प्रदूषण के लिए सबसे ज्यादा जिम्मेदार बिना किसी रोकथाम गंगा में गिरता सीवर का पानी है। बड़ी-बड़ी फैक्ट्रियों कल कारखाने भी इसके उतने ही जिम्मेदार हैं। गंगा को प्रदूषित करने में लोगों का भी उतना ही हाथ है। नहाने, कपड़े धोने से लेकर जानवरों को नहलाने तक का काम बिना रोक-टोक किया जाता है। गोमुख से निकलकर गंगा कुल 2525 किलोमीटर का सफर तय करती है। देश के 5 राज्यों के 97 शहरों से गुजरती है।


5 माह तक 'बद्रीनाथ-धाम' के कपाट बंद

देहरादून। आस्था के मानक बद्रीनाथ धाम के कपाट रविवार शाम करीब सवा 5 बजे बंद कर दिए जाएंगे। कपाट के बंद होने से पहले यहां दर्शन करने वाले श्रद्धालुओं का तांता लगा हुआ है। विदित हो कि अलकनंदा नदी के किनारे स्थित यह हिन्दू धर्म के चार धामों में शुमार है। यहां भगवान विष्णु 6 माह निद्रा में रहते हैं और 6 माह जागते हैं। बद्रीनाथ मंदिर को बदरीनारायण मंदिर भी कहते हैं, जो कि अलकनंदा नदी के किनारे स्थित है। यह मंदिर भगवान विष्णु के रूप बद्रीनाथ को समर्पित है। यह हिन्दुओं के चार धाम में से एक धाम भी है। मंदिर में नर-नारायण विग्रह की पूजा होती है, यहां अखण्ड दीप जलता है, जो कि अचल ज्ञानज्योति का प्रतीक है। बद्रीनाथ पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, जब गंगा नदी धरती पर अवतरित हुई, तो यह 12 धाराओं में बंट गई। इस स्थान पर मौजूद धारा अलकनंदा के नाम से विख्यात हुई और यह स्थान बद्रीनाथ, भगवान विष्णु का वास बना। भगवान विष्णु की प्रतिमा वाला वर्तमान मंदिर 3,133 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है और माना जाता है कि आदि शंकराचार्य ने इसका निर्माण कराया था।


सेना का 'सिंधु-सुदर्शन' युद्ध अभ्यास सत्र

नई दिल्ली। राजस्थान के बाड़मेर में सेना के जवानों ने युद्ध लड़ने का अभ्यास किया। 200 किलोमीटर के दायरे में सिंधु सुदर्शन एक्सरसाइज़ हुई। सिंधु सुदर्शन एक्सरसाइज़ में सेना की स्ट्राइक कोर ने दुश्मन के इलाक़े को घेरने, 100 किलोमीटर तक घुसने और उसकी जमीन पर कब्जा करने का अभ्यास किया है। इसके लिए दुश्मन के इलाके में हेलीकॉप्टर से उतरने की प्रैक्टिस भी की गई। बता दें कि बाड़मेर से पाकिस्तान की सीमा 200 किलोमीटर दूर ही है और सेना भी यह अभ्यास 200 किलोमीटर के दायरे में ही कर रही है। सिंधु सुदर्शन एक्सरसाइज़ में 300 टैंक, 400 बख़्तरबंद गाड़ियां और 300 तोपें शामिल की गई। इसके अलावा पिनाका और बीएम-21 ग्रैड मल्टी बैरल रॉकेट लॉन्चर का भी इस्तेमाल किया गया है। टी-90 टैंक हर 8 सेकेंड में एक गोला दाग़ता है, यानी हर मिनट में 7 गोले फायर कर सकता है। वहीं के-9 वज्र एक मिनट में 8 गोले दाग़ सकता हैं और पिनाका मल्टी बैरल लॉन्चर 12 रॉकेट दाग़ता है। इसके अलावा बीएम-21 ग्रैड 20 सेकेंड में 40 रॉकेट लॉन्च करता है। इनके जरिए दुश्मन को खाक में मिलाना और आसान हो जाता है।


पेट्रोल की कीमत में लगातार चौथा इजाफा

नई दिल्‍ली। ऑयल मार्केंटिग कंपनियों (ओएमसी) ने रविवार को लगातार चौथे दिन पेट्रोल की कीमत में बढ़ोतरी की है। ओएमसी ने पेट्रोल की कीमत में 10-12 पैसे प्रति लीटर तक की बढ़ोतरी की है। एक हफ्ते में राजधानी दिल्‍ली में पेट्रोल के भाव में एक रुपये से ज्‍यादा की बढ़ोतरी हो चुकी है।
राजधानी दिल्‍ली में अब एक लीटर पेट्रोल 73.89 रुपये और एक लीटर डीजल 65.79 रुपये प्रति लीटर मिल रहा है। कोलकाता में एक लीटर पेट्रोल 76.58 रुपये और एक लीटर डीजल 68.20 रुपये प्रति लीटर पर मिल रहा है। देश की आर्थिक राजधानी मुंबई में अब 1 लीटर पेट्रोल 79.55 रुपये और एक लीटर डीजल 69.01 रुपये पर बिक रहा है। चेन्नई में एक लीटर पेट्रोल 76.81 रुपये और एक लीटर डीजल 69.54 रुपये की कीमत पर बिक रहा है।


सैन डिएगो में गोलाबारी, पांच की मौत

सैन डिएगो। दक्षिण कैलिफोर्निया के सैन डिएगो में शनिवार को गोलीबारी में तीन बच्चों सहित पांच लोगों की मृत्यु हो गई। एक बच्चा गंभीर रूप से घायल है। उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया है। मरने वालों में आरोपित 31 वर्षीय बंदूकधारी, 29 वर्षीय महिला और इस महिला के तीन बच्चे शामिल हैं। बच्चों की उम्र तीन से नौ साल के बीच है। तीन साल के बच्चे की घटनास्थल पर मृत्यु हो गई। पांच और नौ साल के बच्चों ने अस्पताल में दम तोड़ दिया।
महिला ने पुरुष को कुछ अरसे पहले तलाक दिया था। दोनों के बीच संपत्ति को लेकर झगड़ा था। हमलावर बच्चों का सौतेला पिता है। सैन डिएगो पुलिस प्रमुख लेटमैट्ट डाब्ज के अनुसार यह घरेलू हिंसा और आत्महत्या का मामला है। पुरुष शनिवार सुबह घर पहुंचा। इसके बाद महिला और पुरुष के बीच नोक-झोंक हुई। इसके बाद पुरुष ने पिस्टल निकाली और खुद को मारने से पहले एक-एक कर सबपर गोलियों की बरसात कर दी। पुलिस को पड़ोसियों ने 911 पर सूचना दी। यह वारदात मध्यवर्गीय बस्ती में हुई है।


भाजपा 'सांसद' लापता के लगे पोस्टर

नई दिल्ली । पूर्व क्रिकेटर और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सांसद गौतम गंभीर प्रदूषण के मुद्दे पर आहूत बैठक में शामिल न होने के बाद से आलोचकों के निशाने पर हैं। दिल्ली के आईटीओ इलाके में रविवार को सांसद गौतम गंभीर के लापता होने के पोस्टर लगाए गए।
इन पोस्टरों पर लिखा है क्या आपने इन्हें कहीं देखा है? आखिरी बार इंदौर में जलेबी खाते ही देखा गया था। पूरी दिल्ली इन्हें ढूंढ रही है। गंभीर इंदौर में चल रहे टेस्ट मैच की कमेंट्री के लिए शुक्रवार को इंदौर में थे। वीवीएस लक्ष्मण ने जतिन सप्रू और गंभीर के साथ इंदौरी पोहे और जलेबी का नाश्ता करते हुए तस्वीर ट्वीट की थी। इसके बाद गंभीर को ट्विटर यूजर्स ने ट्रोल किया। आम आदमी पार्टी एवं अन्य विपक्षी पार्टियों ने उनकी आलोचना की थी।
इस पर गंभीर ने ट्वीट किया कि अगर मुझे गाली देने से दिल्ली का प्रदूषण कम होगा तो आप मुझे जीभर कर गाली दिजिए। उन्होंने कहा कि मेरे संसदीय क्षेत्र और शहर के प्रति प्रतिबद्धताओं को वहां हो रहे काम से आंका जाना चाहिए। उल्लेखनीय है कि प्रदूषण के मुद्दे पर सरकार, विभिन्न अथॉरिटी और जनप्रतिनिधियों की बैठक 15 नवम्बर को थी। बैठक के पैनल में गंभीर सहित 29 सदस्यों को नामित किया गया था। बैठक में केवल चार सदस्य ही पहुंचे थे। दिल्ली के तीन नगर निगमों के आयुक्त भी नहीं पहुंचे थे। इस वजह से बैठक नहीं हो सकी। आम आदमी पार्टी ने इस अनुपस्थिति को सुप्रीम कोर्ट की अवमानना का मामला बताया था।


अग्नि2 बैलेस्टिक मिसाइल का सफल परीक्षण

भुवनेश्वर । ओडिशा के बालासोर में दो हजार किलोमीटर की मारक क्षमता वाली अग्नि-2 बैलिस्टिक मिसाइल का रात के समय परीक्षण किया गया। स्ट्रेटेजिक फोर्सेज कमांड ने बालासोर के तट पर स्थित एपीजे अबदुल कलाम द्वीप से अग्नि-2 का सफल परीक्षण किया।


उल्लेखनीय है कि अग्नि-2 मिसाइल का पिछले साल ही परीक्षण किया गया था लेकिन रात के समय इसका परीक्षण पहली बार हुआ है। अग्नि-2 मिसाइल न्यूक्लियर हथियार ले जाने में सक्षम है। अग्नि-2 बैलिस्टिक मिसाइल 20 मीटर लंबी है। इसका वजन 17 टन है। यह मिसाइल अपने साथ एक हजार किलो का आयुध दो किलोमीटर की दूरी तक ले जा सकता है।


इससे पहले भारत ने छह फरवरी को स्वदेश निर्मित अग्नि-1 बैलिस्टिक मिसाइल का परीक्षण किया गया था। भारतीय सेना के सामरिक बल कमांड ने बालासोर स्थित अब्दुल कलाम द्वीप से इंटीग्रेटेड टेस्ट रेंज (आईटीआर) के लॉन्च पैड-4 से 700 किलोमीटर दूरी की मारक क्षमता वाली मिसाइल का परीक्षण किया था।


क्या है खासियत
– दो स्टेज की मिसाइल, सॉलिड फ्यूल से चलेगी
– मिसाइल लंबाई: 20 मीटर
– वॉरहेड: 1000 किलो ले जाने में कैपेबल
– रेंज: 2000-3000 किमी
– कौन से इक्विपमेंट लगे: सटीक निशाने पर पहुंचने के लिए हाईएक्युरेसी नेविगेशन सिस्टम


सरकारी खजाने को 108 करोड़ का चूना

नई दिल्ली । पश्चिमी दिल्ली स्थित जीएसटी कमीशनरी ने बिना माल एवं सेवाओं की आपूर्ति किए इनवॉयस जारी कर सरकारी खजाने को 108 करोड़ रुपये का चूना लगाने वाले एक गिरोह का भंडाफोड़ किया है।
वित्त मंत्रालय ने शनिवार को बयान जारी कर बताया कि जीएसटी में सरकारी खजाने को 108 करोड़ रुपये का चूना लगाने वाले यह रैकेट 'रॉयल सेल्स इंडिया' तथा 27 अन्य फर्जी कंपनियों का संचालन कर रहा था। उनके नाम पर इनवॉयस जारी करता था। ये सभी 28 कंपनियां वास्तव में अस्तित्व में नहीं थीं। इस मामले में दो लोगों को गिरफ्तार कर पटियाला हाउस कोर्ट में ड्यूटी मजिस्ट्रेट के सामने पेश किया गया। मजिस्ट्रेट ने दोनों आरोपियों को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया है।
वित्त मंत्रालय के मुताबिक गिरोह ने 900 करोड़ रुपये का इनवॉयस जारी कर सरकार को अब तक 108 करोड़ रुपये के कर का चूना लगाया है। ये फर्जी कंपनियों का जीएसटीएन में पंजीकरण कराते थे। गरीब लोगों के दस्तावेज जमा कराकर उन्हें इन कंपनियों के मालिक के तौर पर दिखाया जाता था। इन कंपनियों के नाम पर खोले गए बैंक खातों में पड़ी 1.58 करोड़ रुपये की जमा के लेनदेन पर भी तत्काल रोक लगा दी गई है। मंत्रालय ने बताया कि इस पूरे फर्जीवाड़े से सबसे ज्यादा लाभांवित होने वाले लोगों तक पहुंचने के लिए मामले की आगे जांच की जा रही है।


पराविद्या की दीक्षा

गतांक से...
 मेरे पूज्यपाद गुरुदेव अथवा मेरे भद्र ऋषि मंडल अभी-अभी मेरे पूज्य पाद गुरुदेव ने परमपिता परमात्मा को पुरोहित संबोधित करते हुए, अपने बड़े भव्य और मार्मिक विचार दिए! की पुरोहित की आवश्यकता रहती है! मेरे पूज्यपाद गुरुदेव ने इस वाक्य में अंतरआत्मा के शब्दों में नवीन रूप मे लाने का प्रयास किया! यह सदैव हमें प्रकाश में रत रहने के लिए अग्रणी बनाते रहते हैं! इसलिए आज मेरे पूज्य पाद गुरुदेव ने पुरोहित के संबंध में जितना कहा है वह बड़ा प्रियतम है! क्योंकि जो राष्ट्र आज 'आम व्रहे' में आज पूज्यपाद गुरुदेव से आज्ञा पाता हुआ! सबसे प्रथम यह जो हमारी वाणी है, यह 'आकाशं भूतं मंडलूं बर्वे' यह मृत्य मंडल में प्रवेश कर रही है और वहां एक विशाल भव्य यज्ञ का आयोजन हुआ! जिसको दृष्टिपात करता हुआ, मेरी अंतरात्मा बड़ी प्रसन्न रहती है! क्योंकि जो अपने हृदय से यज्ञ करते है, उनको आयु प्रदान की जाती है! वह मेरी अंतरात्मा तो यजमान के साथ रहता है और मैं सदा यह उच्चारण करता रहता हूं कि हे यजमान, तेरे जीवन का सौभाग्य अखंड बना रहे और तेरी प्रवृत्तियां अखंड बनी रहे! जिससे मानवता अपनी आभा में रत हो सके! मेरे गुरुदेव ने कहा है कि राष्ट्र में पुरोहित होने चाहिए! 'पुरोहिताम् भूतम' राष्ट्र में यदि पुरोहित नहीं होंगे तो राष्ट्र नहीं रहेगा! जो वर्तमान का काल चल रहा है! इसमें पुरोहित का अभाव है, विचारधारा में एक-दूसरे के विचारों में चिंता है और वे चिंतन भी शुभ नहीं कर रहे हैं! क्योंकि राष्ट्र की प्रणाली में आवश्यकता है पुरोहितों की! जैसे ही परमपिता परमात्मा ने संसार को रचने के बाद स्वयं पुरोहित बने और वह स्वयं बनकर के उपदेश दिया! वह 'तेशाम कृतं' का पान करते हुए अपनी-अपनी स्थितियों में रत हो गए और जानने के लिए तत्पर हो गए! मेरे पूज्य पाद गुरुदेव ने अभी-अभी महात्मा विश्वामित्र और वशिष्ठ की चर्चा की है! इनका जीवन तेज, महान और पवित्र रहा है! उनके जीवन में आहार-व्यवहार सदा से पवित्रतम रहते हैं! जिससे बुद्धि का विनाश न हो! परंतु वे भी सील अन्न को पान करते रहते हैं! राष्ट्रीय अन् नको ग्रहण नहीं करते थे! पुरोहित राजा को भी कह सकते हैं, परंतु हे राजन्, तेरा राज्य पवित्र नहीं चल रहा है! हे राजन, तुम्हारे राष्ट्र में प्रजाओ में महानता नहीं है! परंतु पूज्यपाद गुरुदेव ने यह उदगीत गाया, मैं तो यह कहता हूं कि महाभारत के पश्चात पुरोहित का भी सदैव अभाव हो गया! राष्ट्रवेता बने परंतु राजाओं ने पुरोहितों को चुनौती नहीं दी! यदि पुरोहित भी बन गए, तो वे पुरोहित स्वार्थ परत में रत हो गए और स्वार्थ परत मे रत होने के पश्चात यहां सदैव गोदान का ह्रास हो गया! यहां सबसे प्रथम गोधन का अभाव हो गया और अभाव होता ही चला गया और यह जो मेधावी बुद्धि होती है उसका भी अभाव हो गया और यहां से उल्टे मार्ग से सर्वत्रता में गमन कर गए! यहां अन्न में सुगंधी होनी चाहिए, वहां दुर्गंध का वास हो गया! विचार आता रहता है, मैं विशेषता में नहीं जा रहा हूं यह जो आधुनिक काल के जो राष्ट्रवेता है! वह भी वाममार्गी है और प्रजा भी वाम मार्ग के लिए तत्पर हो रही है! उसके आहार-व्यवहार दोनों में त्रुटियां आ गई है! पुरोहित के न रहने से! और यदि पुरोहित महान बुद्धिमान है, ब्रह्मा आत्मा है। ऐसे राजा के राज्य में बुद्धिजीवी होते हैं तो वहां राष्ट्र महान बनता रहता है। बुद्धिजीवी प्राणियों से ही समाज का निर्माण होता है और इसी से राष्ट्र की प्रणाली को चुनौती प्रदान की जाती है।


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

यूनिवर्सल एक्सप्रेस    (हिंदी-दैनिक)


नवंबर 18, 2019 RNI.No.UPHIN/2014/57254


1. अंक-104 (साल-01)
2. सोमवार, नवंबर 18, 2019
3. शक-1941, मार्गशीर्ष-कृष्ण पक्ष, तिथि- सप्तमी, संवत 2076


4. सूर्योदय प्रातः 06:36,सूर्यास्त 05:32
5. न्‍यूनतम तापमान -13 डी.सै.,अधिकतम-24+ डी.सै., छिटपुट बरसात की संभावना रहेगी।
6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा।
7. स्वामी, प्रकाशक, मुद्रक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित।


8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102


9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.,201102


https://universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
cont.935030275
 (सर्वाधिकार सुरक्षित


 


दुनिया में सबसे अधिक परेशान देश है 'अमेरिका'

वाशिंगटन डीसी। कोरोना महामारी की शुरुआत के साथ ही दुनिया भर में सबसे अधिक परेशान देश अमेरिका है। वैश्विक मामलों का आंकड़े की लिस्ट में पहले ...