सोमवार, 14 नवंबर 2022

जिला कांग्रेस कमेटी ने पीएम नेहरू की जयंती मनाई

जिला कांग्रेस कमेटी ने पीएम नेहरू की जयंती मनाई

भानु प्रताप उपाध्याय 

शामली। सोमवार को शामली जिला कांग्रेस कमेटी ने केंप कार्यालय शामली पर जिला कांग्रेस कमेटी के द्वारा भारत के प्रथम प्रधानमंत्री श्री जवाहरलाल नेहरू की जयंती मनाई गई। कांग्रेसियों ने जवाहरलाल नेहरू के चित्र पर पुष्पांजलि अर्पित कर उन्हें याद किया। कांग्रेस जिलाध्यक्ष दीपक सैनी ने कहा कि देश के सबसे पहले प्रधानमंत्री श्री जवाहरलाल नेहरू ने देश की आजादी मे अहम भूमिका निभाई थी। नेहरू जी प्रतिष्ठित घराने से थे। उन्होंने गांधी के असहयोग आंदोलन में बढ चढ कर हिस्सा लिया।

नेहरू भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस मे सक्रिय रहे। आजादी के लिए उन्होंने अग्रेंजी हूकूमत के अत्याचार सहे। वो अनेकों बार जेल भी गए। देश सदैव उनका ऋणी रहेगा। उधर सींगरा के अहमदगढ़ मे कांग्रेस नेता राजेंद्र सिंह गोल्डी के आवास पर पूर्व प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू की जयंती मनाई गई।कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने पुष्पांजलि अर्पित कर उन्हें नमन किया। यूवा कांग्रेस के प्रदेश महासचिव अशवनी शर्मा (सींगरा) ने बताया कि जवाहर लाल नेहरू का जन्म सन् 14 नवंबर 1889 को इलाहाबाद में पण्डित मोतीलाल नेहरू के यहां एक ब्राह्मण परिवार में हुआ था।

जवाहर लाल नेहरू का आजादी से पू्र्व और आजादी के उपरांत केंद्रीय व्यक्तित्व रहा है।उनके द्वारा देश हित में किये गए प्रयासों के लिए देश सदैव ऋणी रहेगा। मुख्य रूप से  दीपक सैनी कांग्रेस जिलाध्यक्ष शैखरपाल प्रदेश महासचिव,  प्रवीण तरार  जिला उपाध्यक्ष, अश्वनी शर्मा प्रदेश महासचिव,  संदीप शर्मा जिला सचिव, अरविंद झझोट जिला सचिव, राहुल शर्मा जिला सचिव, यूवा जिला अध्यक्ष राजेंद्र सिंह  गोल्डी , पंकज शर्मा भभीसा जिला सचिव, अशवनी कौशिक हथछौया ,रविंद्र शर्मा निन्ना अन्सारी पुर्व जिलाध्यक्ष अल्पसंख्यक, प्रमोद कश्यप, हारूण अन्सारी ,महाबीर सैनी, सोयब काजी,विनोद सेन,आदि शामिल हुए।

फाउंडेशन के नेतृत्व में बाल दिवस मनाया: बागपत 

फाउंडेशन के नेतृत्व में बाल दिवस मनाया: बागपत 


सारथी वेलफेयर ने बच्चो के साथ जर्सी जुराब वितरण कर मनाया बालदिवस

गोपीचंद/भानु प्रताप उपाध्याय

बागपत। सोमवार को काशीराम कॉलोनी मलकपुर रोड बड़ौत में जरूरतमंद बच्चों के साथ सारथी वेलफेयर फाउंडेशन के नेतृत्व में बाल दिवस मनाया गया। साथ ही साथ चाचा नेहरू की जयंती भी बनाई जरूरतमंद बच्चों के साथ समय बिताया। उनके साथ खेल भी खेलें और  जरूरतमंद बच्चों को जर्सी और जुराब वितरण की। जिसे पाकर बच्चे बहुत खुश थे। खेलते समय उनके चेहरे पर एक अलग ही खुशी थी वंदना गुप्ता ने बताया कि बच्चो को किसी प्रकार की कमी महसूस न हो इसके लिए हमारी संस्था लगातार काम कर रही है।

सब को बहुत खुशी हुई। सारथी वेलफेयर के सभी सदस्य बाल दिवस पर बच्चों के साथ बहुत खुश थे। इस मौके पर चेयर पर्सन वंदना गुप्ता, शालु गुप्ता, प्रवीण कुमार, हिमांशु गुप्ता आदि ने बच्चो के साथ बाल दिवस मनाया।

'डूडल प्रतियोगिता 2022' के विजेता की घोषणा: गूगल 

'डूडल प्रतियोगिता 2022' के विजेता की घोषणा: गूगल 

अकांशु उपाध्याय/सुनील श्रीवास्तव

नई दिल्ली/वाशिंगटन डीसी। भारत में गूगल के लिए 'डूडल प्रतियोगिता 2022' के विजेता की घोषणा सोमवार को गूगल ने की। कोलकाता के रहने वाले श्लोक मुखर्जी को उनके मोटिवेशनल डूडल 'इंडिया ऑन द सेंटर स्टेज' के लिए विजेता घोषित किया गया है। 14 नवंबर 2022 को श्लोक का डूडल Google.co.in पर 24 घंटे के लिए प्रदर्शित किया जा रहा है। श्लोक न्यू टाउन कोलकाता में दिल्ली पब्लिक स्कूल के छात्र हैं। Google 2022 प्रतियोगिता के लिए डूडल दुनिया भर में टेक दिग्गज Google द्वारा आयोजित किया गया था।

डूडल के बारे में अपने विचार साझा करते हुए, श्लोक ने कहा, “अगले 25 वर्षों में, मेरे भारत में वैज्ञानिक मानवता की बेहतरी के लिए अपने स्वयं के पर्यावरण के अनुकूल रोबोट विकसित करेंगे। भारत के पास पृथ्वी से अंतरिक्ष तक नियमित अंतरिक्ष यात्राएं होंगी। भारत योग और आयुर्वेद के क्षेत्र में और अधिक विकास करेगा और आने वाले वर्षों में और मजबूत होगा।

जूरी में शामिल थे ये लोग

एक विज्ञप्ति में गूगल डूडल ने कहा, "हम छात्रों द्वारा उनकी प्रविष्टियों में लाए गए रचनात्मकता और कल्पना से चकित थे और विशेष रूप से प्रसन्न थे कि प्रौद्योगिकी की प्रगति और स्थिरता कई डूडल में सामान्य विषयों के रूप में उभरती है।" इस वर्ष के निर्णायक पैनल में अभिनेता, फिल्म निर्माता, निर्माता और टीवी हस्ती नीना गुप्ता; टिंकल कॉमिक्स के प्रधान संपादक, कुरियाकोस वैसियन; YouTube निर्माता स्लेयपॉइंट; और, कलाकार और उद्यमी अलीका भट, और Google डूडल टीम शामिल थी। 

20 फाइनलिस्ट का करना था चयन

जूरी को कलात्मक योग्यता, रचनात्मकता, प्रतियोगिता विषय के साथ संरेखण, और दृष्टिकोण की विशिष्टता और नवीनता के मानदंडों के आधार पर देश भर की प्रविष्टियों में से 20 फाइनलिस्ट का चयन करना था। इस बीच, 2022 डूडल फॉर गूगल प्रतियोगिता की वैश्विक विजेता फ्लोरिडा, संयुक्त राज्य अमेरिका की सोफी अराग-लियू हैं। सोफी का 'नॉट अलोन' शीर्षक का चित्रण बहुत प्रभावशाली है। Google प्रतियोगिता के लिए डूडल का उद्देश्य रचनात्मकता को प्रोत्साहित करना है। इस वर्ष की प्रतियोगिता में भारत भर के 100 से अधिक शहरों से कक्षा 1 से 10 तक के बच्चों से 115,000 से अधिक प्रविष्टियाँ प्राप्त हुईं थी।

टिकैत का बयान, भाजपा को वोट नहीं दी जाएगी

टिकैत का बयान, भाजपा को वोट नहीं दी जाएगी

भानु प्रताप उपाध्याय

मुजफ्फरनगर। जनपद की खतौली विधानसभा सीट पर होने वाले उपचुनाव को लेकर भाकियू अध्यक्ष चौधरी नरेश टिकैत ने बड़ा बयान दिया है। चौधरी नरेश टिकैत ने सोमवार को कहा कि भाजपा को वोट नहीं दी जाएगी। सोमवार को पूरे दिन कचहरी के बाहर चले भाकियू के धरने के दौरान एसएसपी कार्यालय में पुलिस अधिकारियों से वार्ता करने पहुंचे, नरेश टिकैत ने खतौली उपचुनाव को लेकर भी बडा बयान दिया।

जब नरेश टिकैत से कल खतौली से रालोद प्रत्याशी मदन भैया के सिसौली पहुंचकर आर्शीवाद लेने को लेकर सवाल किया गया तो उन्होने कहा कि मदन भैया से उनके घरेलू संबंध हैं। उन्होने कहा कि लोगों की जहां मरजी है, वहां वोट दें।

विधायक जितेंद्र के खिलाफ छेड़छाड़ का मामला 

विधायक जितेंद्र के खिलाफ छेड़छाड़ का मामला 

कविता गर्ग

ठाणे। राष्ट्रवादी कांग्रेस विधायक जितेंद्र आव्हाड के खिलाफ छेड़छाड़ का मामला दर्ज किया गया है। इसके बाद अवध ने ट्वीट कर कहा कि वह विधायक पद से इस्तीफा देने का फैसला कर रहे हैं। इसको लेकर कार्यकर्ता आक्रामक हो गए हैं। इस बीच जितेंद्र अवाद की पत्नी रीता अवाद ने कहा है कि जो हुआ उसे छेड़छाड़ नहीं कहा जा सकता है। उन्होंने शिकायतकर्ता महिला की मंशा पर भी सवाल उठाए। रीटा अवध ने आरोप लगाया कि अवध के खिलाफ शिकायत करने वाली महिला का एक खास मकसद था।

जितेंद्र अवाद की पत्नी रीता अवाद ने छेड़छाड़ के मामले पर सवाल उठाया है। उन्होंने कहा कि यह शिकायत दर्ज कराने वाली महिला का कोई मकसद है। छठ पूजा को लेकर हुए विवाद में उसके खिलाफ कई मामले दर्ज हैं। इन मामलों में वह जमानत पर है। उन्होंने एनसीपी और अवध के खिलाफ आपत्तिजनक बात कही है। उसने यह भी कहा कि अगर किसी को एक तरफ धकेलना अपराध है, तो हर दिन बाजारों, ट्रेनों, रेलवे पुलों और भीड़ में सैकड़ों छेड़छाड़ होगी।

चिंतित महिला राजनेता महत्वाकांक्षा रखती हैं। वह कल रात भी किसी से मिली थी। इनके खिलाफ मारपीट का मामला भी दर्ज किया गया है। और जो हुआ वह एक सहज प्रतिक्रिया थी। रीता अवध ने कहा कि इसे रेप नहीं कहा जा सकता। जितेंद्र अवध ने कल मुख्यमंत्री की उपस्थिति में एक उद्घाटन कार्यक्रम में भाग लिया। उस समय कई राजनीतिक नेता और अधिकारी मौजूद थे। तब जितेंद्र अवध ने मुख्यमंत्री शिंदे की कार का इंतजार करते हुए बीजेपी की महिला पदाधिकारी राशिद को धक्का दे दिया. उनका वीडियो राशिद ने शेयर किया है। उन्होंने हम पर अपमान करने का भी आरोप लगाया। इस वीडियो के आधार पर अवध के खिलाफ छेड़छाड़ की शिकायत दर्ज कराई गई है।

बाल दिवस: 'चित्र में रंग भरो' प्रतियोगिता आयोजित

बाल दिवस: 'चित्र में रंग भरो' प्रतियोगिता आयोजित 


बाल दिवस पर मैक्स चिल्ड्रेन हास्पिटल में छोटे बच्चों की हुई चित्र में रंग भरो प्रतियोगिता

प्रथम आई नबीला 4 वर्ष द्वितीय हेरत फात्मा 5 वर्ष

तृतिय नबील ४वर्ष के साथ अन्य दो दर्जन बच्चो को सांत्वना पुरस्कार देकर डाक्टर और समाजसेवियों ने पुरस्कृत किया गया

बृजेश केसरवानी

प्रयागराज। बाल दिवस के अवसर पर करैली के मैक्स चिल्ड्रेन हास्पिटल में छोटे-छोटे बच्चों की प्रतिभा को निखारने और उनका उत्साहवर्धन करने को चित्र में रंग भरो प्रतियोगिता आयोजित की गई। प्रतियोगिता में ३वर्ष से ८वर्ष के दो दर्जन से अधिक बच्चों ने भाग लिया। डाक्टर  काशिफ सिद्दीकी वा डॉक्टर हरदीप कौर के नेतृत्व में नाज़ हास्पिटल वा मैक्स चिल्ड्रेन हास्पिटल में गत दिनों जन्मे बच्चों का मुफ्त परिक्षण और परिजनों को बच्चों की देख भाल बेहतर ढ़ंग से करने का परिक्षण देने के साथ 3 वर्ष से 8 वर्षों के बच्चों के बीच चित्र में रंग भरो प्रतियोगिता कराई गई।

जिसमें प्रथम स्थान पर आई नबीला 4 वर्ष द्वितीय स्थान पर आई हेरत फात्मा 5 वर्ष वा तृतिय स्थान पर ४वर्षीय नबील को डाक्टरों ने समाजसेवियों के हाथों उपहार भेंट कर सम्मानित करने के साथ सभी प्रतिभागियों को सांत्वना पुरस्कार प्रदान किया गया। कार्यक्रम में डॉ० नाज़ फात्मा,डॉ०काशिफ सिद्दीकी ,डॉ०हरदीप कौर ,डॉ०जमशेद अली,डॉ०अभिषेक कनौजिया ,नाज़ हास्पिटल के मैनेजिंग डायरेक्टर अमित यादव ,आई हास्पिटल के मैनेजर सैय्यद मोहम्मद अस्करी ,रामिश रहमान ,मो०अलताफ रज़ा,अजमल,अर्शीया ,समाजसेवी सैय्यद अब्बास हुसैन एडवोकेट ,रोहित कुमार पाण्डेय एडवोकेट आदि उपस्थित रहे।

विश्वविद्यालय के पास स्थित मकान से 4 शव बरामद 

विश्वविद्यालय के पास स्थित मकान से 4 शव बरामद 

डॉक्टर सुभाषचंद्र गहलोत

मॉस्को/वाशिंगटन डीसी। अमेरिका में इदाहो विश्वविद्यालय परिसर के पास स्थित एक मकान से चार शव बरामद हुए हैं। पुलिस ने इस सिलसिले में जांच शुरू कर दी है। प्रशासन की ओर से जारी एक प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार, मॉस्को पुलिस विभाग के अधिकारी घटना की जानकारी मिलने के बाद तुरंत मौके पर पहुंचे।

यह मकान विश्वविद्यालय परिसर से एक ब्लॉक दूर है। अधिकारियों ने मृतकों की पहचान, मौत की वजह, उनमें से कोई छात्र है या नहीं, इस संबंध में कोई विस्तृत जानकारी नहीं दी। पुलिस ने बताया कि परिवार को घटना की सूचना देने के बाद ही कोई भी जानकारी साझा की जाएगी। इदाहो विश्वविद्यालय के अधिकारियों ने घटना के बाद करीब एक घंटे तक छात्रों को बाहर नहीं निकलने दिया, ताकि जांचकर्ता यह सुनिश्चित कर सकें कि इलाके में उनकी जान को कोई खतरा नहीं है।

प्रदेश में बढ़ा साइबर अपराध, योगी सरकार को घेरा

प्रदेश में बढ़ा साइबर अपराध, योगी सरकार को घेरा

संदीप मिश्र

लखनऊ। समाजवादी पार्टी (सपा) ने प्रदेश में बढ़ते साइबर अपराध को लेकर योगी सरकार को घेरा है। पार्टी के आधिकारिक ट्वीटर से पोस्ट कर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में साइबर ठगों द्वारा लोगों के साथ होने वाली घटनाओं को लेकर योगी सरकार पर निशाना साधा है। साथ ही संरक्षित अपराधियों को लेकर भी तंज कसा है।

समाजवादी पार्टी (सपा) ने ट्वीट के साथ एक समाचार पत्र में प्रकाशित खबर को पोस्ट करते हुए कहा कि ‘साइबर ठगों के आगे प्रदेश की सरकार लाचार है। राजधानी लखनऊ में हर माह सैकड़ों लोग साइबर ठगी का शिकार हो रहे हैं और हुक्मरान हाथ पर हाथ धरे बैठे हैं।’ सपा ने भाजपा सरकार से साइबर ठगों पर कार्रवाई की बात को तंज भरे अंदाज में कहा है कि ‘इनके खिलाफ़ सख्त एक्शन कब लेगी सरकार?’

सपा ने अपने दूसरे ट्वीट में प्रदेश में महिलाओं के साथ बढ़ते अपराधों की घटनाओं का हवाला दिया है। कहा है कि ‘प्रदेश में संरक्षित अपराधियों से बहन, बेटियां और महिलाएं क्षत-विक्षत हो रही हैं!’ इसमें प्रदेश के कई जनपदों में महिलाओं के साथ लूट, हत्या, दुष्कर्म व छेड़छाड़ की घटनाओं से जुड़े समाचारों में प्रकाशित खबरों को पोस्ट के साथ दर्शाया गया है।

मैनचेस्टर यूनाइटेड व कोच एरिक की कड़ी आलोचना

मैनचेस्टर यूनाइटेड व कोच एरिक की कड़ी आलोचना

मोमीन मलिक 

लंदन। दिग्गज फुटबॉलर क्रिस्टियानो रोनाल्डो ने एक टीवी साक्षात्कार में मैनचेस्टर यूनाइटेड और कोच एरिक टेन हैग की कड़ी आलोचना करते हुए कहा कि उन्हें लग रहा है कि क्लब ने उन्हें धोखा दिया और उसके सीनियर अधिकारियों ने उन्हें बाहर करने का प्रयास किया। यह साक्षात्कार इस सप्ताह ब्रिटेन के ‘टॉक टीवी’ पर प्रसारित किया जाएगा लेकिन विश्वकप से पहले यूनाइटेड के अंतिम मैच से पूर्व इसकी कुछ क्लिप रविवार को जारी की गई।

 रोनाल्डो को लगातार दूसरे मैच से बाहर रखा गया और क्लब ने कहा कि उन्हें कोई अज्ञात बीमारी है लेकिन पुर्तगाल के स्टार फुटबॉलर की टिप्पणी से कयास लगाए जा रहे हैं कि उन्होंने क्लब की तरफ से अपना अंतिम मैच खेल लिया है। रोनाल्डो से ‘पियर्स मॉर्गन अनसेंसर्ड’ कार्यक्रम के दौरान पूछा गया कि क्या उन्हें लगता है यूनाइटेड के कुछ शीर्ष अधिकारी उन्हें बाहर करने की कोशिश कर रहे थे, उन्होंने कहा,‘‘ हां, केवल कोच ही नहीं बल्कि क्लब के तीन-चार अन्य अधिकारी भी। 

मैं ऐसा महसूस कर रहा हूं जैसे मुझे धोखा दिया गया।’’ पुर्तगाल के इस 37 वर्षीय खिलाड़ी से फिर पूछा गया के क्या क्लब के सीनियर अधिकारी उन्हें बाहर करने की कोशिश कर रहे हैं, उन्होंने कहा,‘‘ मैं परवाह नहीं करता। लोगों को सच सुनना चाहिए। हां, मैं ठगा हुआ सा महसूस कर रहा हूं और मुझे लगता है कुछ लोग नहीं चाहते कि मैं यहां रहूं। इस साल ही नहीं बल्कि पिछले साल भी।’’ 

रोनाल्डो इस सत्र में यूनाइटेड की शुरूआती एकादश से अंदर-बाहर होते रहे और पिछले महीने टोटेनहैम के खिलाफ उन्होंने स्थानापन्न खिलाड़ी के रूप में उतरने से इंकार कर दिया था। इसके बाद उन्हें चेल्सी के खिलाफ मैच के लिए टीम में नहीं चुना गया था। रोनाल्डो ने टेन हैग के साथ संबंधों के बारे में कहा,‘‘ मैं उसका कोई सम्मान नहीं करता क्योंकि वह भी मेरा सम्मान नहीं करता है। अगर आप मेरा सम्मान नहीं करते हैं तो फिर मैं भी कभी आपका सम्मान नहीं करूंगा।’’

चिंता करने की जरूरत नहीं, पीड़ा का निवारण होगा

चिंता करने की जरूरत नहीं, पीड़ा का निवारण होगा

संदीप मिश्र

लखनऊ/गोरखपुर। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जनता दर्शन में आए फरियादियों को आश्वस्त किया कि किसी को चिंता करने की जरूरत नहीं है। सबकी पीड़ा का निवारण होगा। यह सरकार की प्राथमिकता है। हर मामले में प्रभावी कार्रवाई होगी। जरूरत के मुताबिक मुकम्मल इलाज की व्यवस्था होगी। इलाज में धन की कमी आड़े नहीं आएगी। हर पीड़ित की समस्या का निस्तारण न्याय परक कराया जाएगा।

मुख्यमंत्री योगी ने सोमवार सुबह गोरखनाथ के महंत दिग्विजयनाथ स्मृति सभागार के सामने कुर्सियों पर बैठे फरियादियों से मिले और उनकी पीड़ा को सुना। बड़े इत्मीनान से एक-एक कर उन्होंने सभी लोगों की समस्याएं सुनीं, उनके प्रार्थना पत्रों को अधिकारियों को जरूरी निर्देश दिया। लोगों को परेशान न होने और समस्या समाधान के त्वरित व प्रभावी कार्रवाई के प्रति आश्वस्त किया।

इस दौरान इलाज के लिए मदद की गुहार करने आई एक महिला से उन्होंने आयुष्मान कार्ड के बारे में पूछा। इलाज के लिए इस्टीमेट की प्रक्रिया को शीघ्रता से पूर्ण कर शासन में भेजने के लिए अधिकारियों को निर्देशित किया। इस महिला समेत सभी जरूरतमंदों के आयुष्मान कार्ड बनवाने की नसीहत भी दी। पुलिस व राजस्व से संबंधित मामलों में समाधान जल्दी करने को कदम उठाने के प्रति आगाह किया। फरियादी को दोबारा परेशान न होने की हिदायत भी दी।

इस दौरान महिला फरियादियों के साथ आए बच्चों को मुख्यमंत्री ने प्यार-दुलार कर आशीर्वाद दिया। बच्चों को चॉकलेट देने के साथ ही उनकी माताओं को समझाया कि बच्चों को स्कूल जरूर भेजें। सरकार ने बच्चों की पढ़ाई से लेकर उनके बैग, कॉपी-किताब, यूनिफॉर्म, जूता-मोजा आदि की नि:शुल्क व्यवस्था कर रखी है।

युंगाड़ा के पूर्वी भाग तक पहुंची महामारी 'इबोला'

युंगाड़ा के पूर्वी भाग तक पहुंची महामारी 'इबोला'

अखिलेश पांडेय 

कंपाला। पूर्वी अफ्रीकी राज्य युगांडा में बेहद घातक संक्रामक महामारी 'इबोला' का प्रकोप इसके पूर्वी भाग तक पहुंच गया है। युंगाड़ा के स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा है कि संक्रामक महामारी इबोला देश के पूर्वी भाग तक फैल गयी है। स्वास्थ्य मंत्री रुथ एकेंग ने रविवार को ट्वीट किया कि देश के पूर्वी हिस्से में स्थित जिन्जा जिले में 45 वर्षीय पुरुष की मौत की पुष्टि हुई है। 

एकेंग ने ट्वीट किया कि युवक की मृत्यु दस नवंबर को उसके घर पर हुई। एकेंग के ट्वीट के अनुसार, उनके भाई की भी इस बीमारी की चपेट में आने के कारण इससे पहले तीन नवंबर को मौत हो चुकी है। उनके भाई राजधानी कंपाला से जिंजा गये थे जहां वे बीमार हो गए और दस दिनों तक बीमार रहने के बाद तीन नवंबर को उनकी मृत्यु हो गई थी। स्वास्थ्य मंत्रालय के छह नवंबर तक के आंकड़ों के अनुसार बीस सितंबर को महामारी की सूचना के बाद से देश में 135 पुष्ट मामले दर्ज किए गए हैं। 

भाजपा ने कभी भी 'ऑपरेशन लोटस' नहीं चलाया

भाजपा ने कभी भी 'ऑपरेशन लोटस' नहीं चलाया

मनोज सिंह ठाकुर 

भोपाल। मध्य प्रदेश के नगरीय प्रशासन मंत्री भूपेंद्र सिंह ने सोमवार को कहा कि भाजपा ने कभी भी 'ऑपरेशन लोटस' नहीं चलाया, लेकिन देश भर में कांग्रेस के कुछ लोग स्वेच्छा से ही कांग्रेस छोड़ना चाहते हैं और मध्यप्रदेश में भी कई कांग्रेस सदस्य भारतीय जनता पार्टी के संपर्क में हैं। 

भूपेंद्र सिंह ने संवाददाताओं से चर्चा के दौरान कहा कि पार्टी ने कभी भी ऑपरेशन लोटस नहीं चलाया और न ही इसकी आवश्यकता है। इसी क्रम में उन्होंने कहा कि पूरे देश में कांग्रेस के नेता स्वेच्छा से कांग्रेस छोड़कर जा रहे हैं। ऐसी परिस्थितियां मध्य प्रदेश में भी है, उनके कई लोग भाजपा के संपर्क में हैं। कांग्रेस भयभीत है और अपने विधायकों को बंधक बनाने की कोशिश कर रही है। कोई स्वेच्छा से भाजपा में आना चाहता है तो भाजपा इस पर विचार करेगी। 

दरअसल कांग्रेस नेता राहुल गांधी की 'भारत जोड़ो यात्रा' 20 नवंबर को मध्य प्रदेश में प्रवेश कर रही है। कांग्रेस ने इस दौरान अपने विधायकों को एक साथ रहने को कहा है। श्री सिंह इसी पर प्रतिक्रिया दे रहे थे। वहीं एक अन्य सवाल के जवाब में श्री सिंह ने कहा कि मध्य प्रदेश में पर्याप्त मात्रा में खाद उपलब्ध है और कांग्रेस के नेता एवं विधायक अफवाहों और गुंडागर्दी से अराजकता फैलाने का प्रयास कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि जो किसान कांग्रेस के झूठे वादे के कारण डिफॉल्टर हो गए थे, उनको खाद खरीदने में थोड़ी बहुत परेशानी हुई थी, लेकिन उनको भी खाद उपलब्ध कराई गई है।

जबरन धर्मांतरण को बहुत गंभीर मुद्दा करार दिया 

जबरन धर्मांतरण को बहुत गंभीर मुद्दा करार दिया 

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। उच्चतम न्यायालय ने जबरन धर्मांतरण को बहुत गंभीर मुद्दा करार देते हुए सोमवार को केंद्र से कहा कि वह इसे रोकने के लिए कदम उठाए और इस दिशा में गंभीर प्रयास करे। अदालत ने चेताया कि यदि जबरन धर्मांतरण को नहीं रोका गया तो एक बहुत मुश्किल स्थिति पैदा होगी।न्यायमूर्ति एम.आर. शाह और न्यायमूर्ति हिमा कोहली की पीठ ने सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता से कहा कि सरकार प्रलोभन के जरिए धर्मांतरण पर अंकुश लगाने के लिये उठाए गए कदमों के बारे में बताए। पीठ ने कहा कि यह एक बहुत ही गंभीर मामला है। केंद्र द्वारा जबरन धर्मांतरण को रोकने के लिए गंभीर प्रयास किए जाने चाहिए। अन्यथा बहुत मुश्किल स्थिति सामने आएगी। हमें बताएं कि आप क्या कार्रवाई करने का प्रस्ताव रखते हैं... आपको हस्तक्षेप करना होगा।

अदालत ने कहा कि यह बेहद गंभीर मुद्दा है, जो राष्ट्र की सुरक्षा और धार्मिक स्वतंत्रता को प्रभावित करता है। इसलिए, बेहतर होगा कि केंद्र सरकार अपना रुख स्पष्ट करे और इस तरह के जबरन धर्मांतरण को रोकने के लिए आगे क्या कदम उठाए जा सकते हैं, इस पर जवाबी हलफनामा दाखिल करे। उच्चतम न्यायालय अधिवक्ता अश्विनी कुमार उपाध्याय द्वारा दायर एक याचिका पर सुनवाई कर रहा था, जिसमें केंद्र और राज्यों को डरा-धमकाकर, प्रलोभन देकर और पैसे का लालच देकर धर्मांतरण पर अंकुश लगाने के लिए कड़े कदम उठाने का निर्देश देने का अनुरोध किया गया है।

'आप' ने मान सरकार के फैसले का स्वागत किया

'आप' ने मान सरकार के फैसले का स्वागत किया

अमित शर्मा 

चंडीगढ़/जालंधर। हथियारों के लाइसेंस की समीक्षा करने और गैर जरूरी लाइसेंस रद्द करने के मान सरकार के फैसले का आम आदमी पार्टी (आप) ने स्वागत किया है। आप पंजाब के मुख्य प्रवक्ता मलविंदर सिंह कंग ने सोमवार को कहा कि पिछली बादल और कांग्रेस सरकार ने बड़ी संख्या में गैर जरूरी लोगों को हथियार के लाइसेंस बांटे, जिससे पंजाब में गन कल्चर को बढ़ावा मिला और समाज का माहौल खराब हुआ। उन्होंने कहा कि पिछले कुछ वर्षों के दौरान कई ऐसी दुर्भाग्यपूर्ण घटनाएं सामने आईं जिनमें शादी-विवाह जैसे शुभ कार्यक्रम में हथियार लहराने के कारण लोगों की जान चली गईं।

समीक्षा कराने से सही और गलत लोगों का पता चलेगा और सिर्फ जरूरत वाले लोगों को ही हथियार के लाइसेंस मिल सकेंगे। प्रवक्ता ने कहा कि मान सरकार का यह फैसला राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पंजाब की छवि को बेहतर बनाएगी। नौजवानों को गलत रास्ते पर जाने से रोकेगा और समाज में शांति-सौहार्द का वातावरण स्थापित करेगा। 

क्रिप्टोकरेंसी में बड़ी गिरावट, अफरा-तफरी का माहौल

क्रिप्टोकरेंसी में बड़ी गिरावट, अफरा-तफरी का माहौल

अकांशु उपाध्याय

नई दिल्ली। विश्व में क्रिप्टोकरेंसी में आई बड़ी गिरावट से चारों तरफ अफरा-तफरी का माहौल है, वहीं भारत में इसका ख़ास असर नहीं हुआ है। इसका श्रेय सरकार और भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के सतर्क रुख को जाता है। आरबीआई ने क्रिप्टोकरेंसी को मान्यता देने से बार-बार इनकार करता रहा है और उसने इसमें लेनदेन को लेकर आगाह भी किया है।

वहीं सरकार ने क्रिप्टो लेनदेन की मांग को कम करने के लिए कर का रास्ता चुना है। क्रिप्टोकरेंसी का बाजार 2021 में तीन हजार अरब डॉलर था, जिसका कुल बाजार मूल्य अब एक हजार अरब डॉलर से भी कम रह गया है। हालांकि, भारतीय निवेशक इससे काफी हद तक बचे रहे हैं जबकि बहामास का एफटीएक्स बाजार लोगों द्वारा बिकवाली के बाद दिवालिया हो गया है। भारत में आरबीआई पहले दिन से ही क्रिप्टोकरेंसी का विरोध कर रहा है, जबकि सरकार शुरू में एक कानून लाकर ऐसे माध्यमों को विनियमित करने का विचार कर रही थी। हालांकि, सरकार बहुत विचार-विमर्श के बाद इस निष्कर्ष पर पहुंची कि वर्चुअल मुद्राओं के संबंध में वैश्विक सहमति की आवश्यकता है क्योंकि ये सीमाहीन हैं और इसमें शामिल जोखिम बहुत अधिक हैं।

आरबीआई के अनुसार, क्रिप्टोकरेंसी को विशेष रूप से विनियमित वित्तीय प्रणाली से बचकर निकल जाने के लिए विकसित किया गया है और यह उनके साथ सावधानी बरतने के लिए पर्याप्त कारण होना चाहिए। उद्योग का अनुमान है कि भारतीय निवेशकों का क्रिप्टोकरेंसी परिसंपत्तियों में निवेश केवल तीन प्रतिशत है। वैश्विक क्रिप्टो बाजार में गिरावट के बावजूद, भारत की क्रिप्टोकरेंसी कंपनियां अभी तक किसी जल्दबाजी में नहीं हैं।

भारत के सबसे बड़े क्रिप्टो एक्सचेंज वजीरएक्स और जेबपे का परिचालन जारी है। सरकार और भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (सेबी) के साथ केंद्रीय बैंक के सतर्क रुख की वजह से भारत में क्रिप्टो का बड़ा बाजार नहीं खड़ा हो सका। अगर भारतीय संस्थाएं क्रिप्टो में शामिल हो गई होतीं, तो देश में कई लोगों के पैसे डूब जाते।

एसोसिएशन ऑफ नेशनल एक्सचेंज मेंबर्स ऑफ इंडिया (एएनएमआई) के अध्यक्ष कमलेश शाह के अनुसार, आरबीआई और सरकार द्वारा क्रिप्टोकरेंसी को मान्यता नहीं देने के लिए उठाए गए कदम इस समय उचित हैं। रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने भी जून में जारी वित्तीय स्थिरता रिपोर्ट में क्रिप्टोकरेंसी को ‘स्पष्ट खतरा’ बताया था।

हलफनामा दायर करने हेतु 12 दिसंबर तक का समय 

हलफनामा दायर करने हेतु 12 दिसंबर तक का समय 

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। उच्चतम न्यायालय ने सोमवार को केंद्र सरकार को वर्ष 1991 के उस कानून के कुछ प्रावधानों की वैधता को चुनौती देने वाली याचिकाओं पर एक व्यापक हलफनामा दायर करने के लिए 12 दिसंबर तक का समय दिया, जो पूजा स्थल पर फिर से दावा करने या 15 अगस्त 1947 तक मौजूद उसके स्वरूप में बदलाव की मांग करने के लिए मुकदमा दायर करने पर रोक लगाता है।

प्रधान न्यायाधीश डी वाई चंद्रचूड़ और न्यायमूर्ति जे बी पारदीवाला की पीठ केंद्र की ओर से पेश सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता की इन दलीलों को स्वीकार कर लिया कि जवाब दाखिल नहीं किया जा सका है और मामले में बाद में सुनवाई की जा सकती है। मेहता ने कहा, “एक विस्तृत जवाब दाखिल करने के लिए मुझे सरकार के साथ विचार-विमर्श करने की जरूरत है। क्या कुछ समय दिया जा सकता है।”

पीठ ने सॉलिसिटर जनरल की इन दलीलों को स्वीकार करते हुए याचिकाओं पर सुनवाई स्थगित कर दी कि सरकारी अधिकारियों के साथ उचित विचार-विमर्श किए जाने की जरूरत है। पीठ ने केंद्र को 12 दिसंबर या उससे पहले एक ‘व्यापक’ हलफनामा दायर करने का निर्देश दिया।

उसने केंद्र से संबंधित पक्षों के साथ अपनी प्रतिक्रिया साझा करने को कहा और याचिकाओं पर जनवरी 2023 के पहले सप्ताह में सुनवाई करने का निर्णय लिया। राज्यसभा सदस्य और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा कि उन्होंने अपनी याचिका में अधिनियम को रद्द करने की मांग नहीं की है।

उन्होंने कहा कि अयोध्या के राम मंदिर विवाद की तरह ही काशी और मथुरा में कथित विवादित स्थलों से संबंधित मामलों को पूजा स्थल (विशेष प्रावधान) अधिनियम-1991 के दायरे से बाहर रखा जाना चाहिए। स्वामी ने कहा, “मैं अधिनियम को रद्द करने की मांग नहीं कर रहा हूं। लेकिन दो मंदिरों को शामिल किया जाए और अधिनियम अपने स्वरूप में रह सकता है।” पीठ ने कहा कि वह मामले की अगली सुनवाई पर स्वामी की याचिका पर विचार करेगी। इससे पहले, उच्चतम न्यायालय ने केंद्र को पूजा स्थल (विशेष प्रावधान) अधिनियम की वैधता को चुनौती देने वाली याचिकाओं पर जवाब दाखिल करने के लिए 31 अक्टूबर तक का समय दिया था।

शीर्ष अदालत अधिवक्ता अश्विनी उपाध्याय द्वारा दायर याचिका सहित अन्य याचिकाओं पर सुनवाई कर रही थी। उपाध्याय ने दलील दी है कि पूजा स्थल (विशेष प्रावधान) अधिनियम-1991 की धारा 2, 3, 4 को इस आधार पर रद्द कर दिया जाना चाहिए कि ये प्रावधान पूजा स्थल पर फिर से दावा करने के किसी व्यक्ति या धार्मिक समूह के न्यायिक अधिकार को छीन लेते हैं।

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन 


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण


1. अंक-400, (वर्ष-05)

2. मंगलवार, नवंबर 15, 2022

3. शक-1944, मार्गशीर्ष, कृष्ण-पक्ष, तिथि-सप्तमी, विक्रमी सवंत-2079‌‌।

4. सूर्योदय प्रातः 06:40, सूर्यास्त: 05:28। 

5. न्‍यूनतम तापमान- 21 डी.सै., अधिकतम-33+ डी.सै.।

6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है। 

7.स्वामी, मुद्रक, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम व शिवांशु, (विशेष संपादक) श्रीराम व सरस्वती (सहायक संपादक) संरक्षण-अखिलेश पांडेय, ओमवीर सिंह, वीरसैन पवार, योगेश चौधरी आदि के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी।

8. संपर्क व व्यवसायिक कार्यालय- चैंबर नं. 27, प्रथम तल, रामेश्वर पार्क, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102। 

9. पंजीकृत कार्यालयः 263, सरस्वती विहार लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102

http://www.universalexpress.page/ www.universalexpress.in 

email:universalexpress.editor@gmail.com 

संपर्क सूत्र :- +919350302745--केवल व्हाट्सएप पर संपर्क करें, 9718339011 फोन करें।

(सर्वाधिकार सुरक्षित)

बैठक: महाप्रबंधक ने निरंजन पुल का निरीक्षण किया

बैठक: महाप्रबंधक ने निरंजन पुल का निरीक्षण किया महाप्रबन्धक श्री सतीश कुमार ने किया निरंजन पुल का निरीक्षण अधिकारियों के ...