गुरुवार, 26 मार्च 2020

गरीब के अकाउंट में जाएगा पैसा

नई दिल्‍ली। कोरोना संकट पर वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि इस मुद्दे पर सरकार की नजर है। सरकार गरीबों के लिए हर संभव प्रयास करने में जुटी है। बहरहाल, सरकार गरीबों के लिए सरकार 1 लाख 70 हजार करोड़ रुपए का पैकेज देने जा रही है। ये पैसा गरीबों के सीधे अकाउंट में भेजा जाएगा। किसी भी गरीब को भूखा नहीं रहने देंगे। हर गरीब को अगले तीन महीनों तक 5 किलो अतिरिक्‍त अनाज मुफ्त से मिलेगा। यानी प्रधानमंत्री अन्‍न योजना के तहत 80 करोड़ लाभार्थियों को ये लाभ मिलेगा। ये पीडीएस के तहत मिलने वाले राशन से अतिरिक्‍त सुविधा होगी। इसके साथ ही कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहे डॉक्‍टरों जैसे योद्धाओं का बीमा 50 लाख का होगा। इस तरह 20 लाख स्‍वास्‍थ्‍य कर्मचारियों को ये बीमा कवर दिया जाएगा।


21116 लोगों की मौत, 465163 संक्रमित

नई दिल्ली। दुनिया भर में कोरोना वायरस के मामले लगातार बढ़ते जा रहे है। दुनिया के 185 देशों में फैल चुके कोविड-19 का प्रकोप थमने का नाम नहीं ले रहा है। नोवेल कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या में दिन पर दिन इजाफा होता जा रहा है। अब तक इस खतरनाक वायरस से 21,116  लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि करीब 4,65,163 लोग इससे संक्रमित हुए हैं। मौत के मामले में स्पेन चीन से आगे निकल गया है। स्पेन में ये वायरस अबतक तीन हजार 647 लोगों की जान ले चुका है। चीन में इस वायरस का पहला मामला सामने आने के बाद 181 देशों में 4 लाख 68 हजार 905 मामले दर्ज किए गए हैं।


16 की मौत, 600 से अधिक संक्रमित

नई दिल्ली। भारत में कोरोना के शिकार अब तक 16 कोरोनावायरस वैश्विक महामारी बन चुका है। दुनियाभर में लाखों लोग अब तक इससे संक्रमित हो चुके हैं। गुरुवार शाम तक दुनिया भर में 4 लाख16 हज़ार 686 लोग इससे संक्रमित पाए गए थे और इनमें से 18 हज़ार 589 की जान भी चली गई।


अन्य देशों की तुलना में भारत में भले ही स्थिति काफी बेहतर हो लेकिन यहां भी अब तक करीब 600 लोग इससे संक्रमित है और मरने वालों की संख्या भी 16 तक जा पहुंची है ।छत्तीसगढ़ में भी हालात धीरे-धीरे बिगड़ रहे हैं। सबसे पहला मरीज रायपुर में मिला था जिसके बाद और 5 मरीज कोरोनावायरस पॉजिटिव पाए गए हैं, जिनमें से रायपुर से तीन ,राजनांदगांव से एक, दुर्ग से एक और बिलासपुर से एक मरीज है। 25 मार्च को बिलासपुर में 57 सैंपल प्राप्त हुए जिनमें से 34 नेगेटिव पाए गए लेकिन इनमें से कुछ पॉजिटिव निकले हैं और आशंका है कि कुछ और पॉजिटिव रिजल्ट सामने आ सकते है। इसी दौरान प्रदेश के स्वास्थ्य विभाग ने सभी मेडिकल कॉलेज के डॉक्टर और मेडिकल स्टाफ को इसके लिए प्रशिक्षित करने की व्यवस्था की है साथ ही स्वास्थ्य विभाग ने सर्विलांस सेवा भी शुरू कर दी है। छत्तीसगढ़ में कोरोना संक्रमित मरीजों की जांच और उपचार हेतु प्रोटोकॉल निर्धारित किया गया है। छत्तीसगढ़ में अब तक प्राप्त कुल 289 सैंपल में से 260 नेगेटिव पाये गए हैं। वही पॉजिटिव सैंपल की संख्या 6 है। 23 लोगों की जांच रिपोर्ट आनी है। देर से ही सही लेकिन प्रदेश की सरकार अब तेजी से इस पर कार्य कर रही है। एक तरफ जहां लॉक डाउन को पूरी तरह प्रभावी बनाने की कोशिश जारी है तो वहीं स्वास्थ्य अमला जांच और इलाज में जुटा हुआ है। लाख कोशिश के बावजूद सच्चाई यह है कि आने वाले दिनों में ये आंकड़े और बढ़ेंगे। अब तक जो नतीजे सामने आए हैं उससे यही अंदाज लगाया जा सकता है कि अधिकांश वे लोग ही कोरोनावायरस से संक्रमित हो रहे हैं जिन्होंने हाल ही में विदेश यात्रा की है। कुछ लोग इनसे संपर्क में आने के बाद ही इससे संक्रमित हुए हैं। अगर भारत सरकार समय रहते विदेश से आने वाले सभी यात्रियों पर अंकुश लगा देती तो भारत की स्थिति और बेहतर होती।


रूस ने दिया दूरदृष्टि का प्रमाण

नई दिल्‍ली। कोरोना वायरस से निपटने में दुनिया के बड़े ताकतवर देश भी नाकाम साबित हो रहे हैं। इस वायरस ने दुनिया का सबसे ताकतवर मुल्‍क कहे जाने वाले अमेरिका की कमर तोड़कर रख दी है। वहीं, रूस ने अब तक इस बीमारी से जनहानि को रोकने में सफलता पाई है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के बीच फोन पर आज बातचीत हुई, इस दौरान कोरोना वायरस पर भी चर्चा की गई।


प्राप्‍त जानकारी के अनुसार, रूस में कोरोना वायरस से अब तक केवल एक व्‍यक्ति की मौत हुई है। इधर, भारत में 21 दिन के लॉकडाउन के बीच आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के बीच फोन पर बातचीत हुई। इस दौरान कोरोना वायरस पर भी चर्चा की गई। दुनिया में कोरोना वायरस ने अब तक 21 हजार से ज्‍यादा लोगों की जान ली है, भारत में भी 500 से ज्यादा लोग इससे संक्रमित हुए हैं, ऐसे हालात में मोदी और पुतिन के बीच हुई यह बातचीत बेहद अहम है।


लॉक डाउन में बेहतरीन कालाबाजारी

मनीष गुप्ता के साथ समीर मिश्रा ‌‌


कानपुर। शहर के कई इलाकों में आम जनता के साथ दुकानदार ठेले वाले आम जनता को मंहगा सामान बेच कर लूट रहे हैं।
 एक तरफ हमारे भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तथा उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ करोना वायरस की महामारी होने के कारण पूरे प्रदेश में लाकडाउन डाउन जारी कर रखा है। तथा खान-पान दवा तथा आवश्यक सामग्री की कालाबाजारी को रोकने के लिए हेल्पलाइन नंबर भी जारी किए हैं तथा पुलिस प्रशासन ने भी आम जनमस  को आग्रह किया है कि कोई भी दुकानदार ठेलेवाला महंगा सामान बेचे तो आप लोग तत्काल सुचित करें। पकड़ें जाने पर उनकी खैर नहीं वही एक तरफ कानपुर के हुलागंज खपरा मोहाल 
शांति नगर मीरपुर कैंट फेथफुल गंज में  आटा हुआ गायब जिन दुकानदारों ने कालाबाजारी के चलते कालाबाजारी करने के लिए राशन को महंगे दामों में बेचा। आटा ₹35 से ₹50 तक किलो बाजार में सोयाबीन तेल ₹120 किलो वहीं चीनी के भाव 40 से ₹50 के बीच रहे दूध 30 से 35 रुपए पैकेट नवरात्र को देखते हुए सिंघाड़े का आटा ₹120 से ₹140 किलो  वहीं माता की चुनरी  के भाव 70 रू,50 से 60 रू दर्जन केला रहा वहीं संतरे का भाव ₹50  से 60 के बीच रहा।


सोशल डिस्टेंसिग का बूस्टर शॉट

कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप से पूरी दुनिया दहशत में है। इस खतरनाक वायरस का खौफ इस कदर है कि दुनियाभर की करीब एक तिहाई आबादी अपने घरों में कैद होने पर मजबूर हो गई है। मगर डर के इस माहौल में लाइलाज कोरोना वायरस को लेकर नोबेल पुरस्कार विजेता माइकल लेविट की एक भविष्यवाणी लोगों को कुछ राहत दे सकती है। स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी के बायोफिजिसिस्ट और नोबेल पुरस्कार विजेता माइकल लेविट ने एक भविष्यवाणी की है कि नोवल कोरोना वायरस का कहर जल्द ही खत्म हो जाएगा, क्योंकि पूरी दुनिया सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कर रही है और इसने एक बूस्टर शॉट दिया है जो इस समय महामारी से लड़ने के लिए आवश्यक है। बता दें कि माइकल लेविट वही हैं, जिन्होंने भविष्यावाणी की थी कि चीन में सवा तीन हजार लोग मरेंगे। 
साल 2003 में रसायन विज्ञान में प्रतिष्ठित नोबेल पुरस्कार जीतने वाले माइकल लेविट ने इससे पहले चीन में महामारी के बारे में भविष्यवाणी की थी कि चीन में यह महामारी विनाशकारी प्रकोप लेकर आएगी। माइकल के बाद ही अन्य हेल्थ एक्सपर्सट्स ने ऐसी भविष्यवाणी की थी।
माइकल लेविट ने 'द लॉस एंजिल्स टाइम्स' को दिए एक इंटरव्यू में कहा, 'हमें कोरोना वायरस के बढ़ते खतरनाक प्रकोप को रोकने के लिए जो करना चाहिए, वो हम कर रहे हैं... हम सब ठीक होने जा रहे हैं।' उन्होंने आगे कहा कि परिस्थिति उतनी भयावह नहीं है, जितना कि चेताया जा रहा है।' उन्होंने कहा कि भले  ही कोरोना के बढ़ते मामलों की संख्या परेशान करने वाली है, मगर धीमी वृद्धि के स्पष्ट संकेत मिल रहे हैं।  जॉन्स हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी के डेटा के मुताबिक कोरोना वायरस से अमेरिका में 471 लोगों की मौत हो चुकी है और 35,224 मामले सामने आ चुके हैं। 
कोरोना वायरस के वैश्विक असर की बात करें तो दुनियाभर में इस वायरस से अब तक साढ़े चार लाख से अधिक लोग संक्रमित हो चुके हैं और करीब 17 हजार से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। 
लेविट कहते हैं कि सोशल डिस्टेंसिंग और फ्लू के खिलाफ टीकाकरण दोनों ही कोरोना वायरस प्रसार के खिलाफ लड़ाई के लिए अहम हैं। उन्होंने  कोरोना वायरस को लेकर मीडिया को दहशत फैलाने के लिए जिम्मेदार ठहराया। जब शुरू में चीन ने कोविड-19 से अधिक मौतों की रिपोर्ट करना शुरू किया, तब माइकल लेविट ने एक आशावादी रिपोर्ट भेजी थी। 
उन्होंने अपने नोट में लिखा था, जो चीन में सोशल मीडिया पर काफी वायरल हुआ था- 'इससे पता चलता है कि मरने वालों की संख्या में वृद्धि की दर अगले सप्ताह और भी धीमी हो जाएगी।' लेविट ने फरवरी के मध्य तक चीन में करीब लगभग 80,000 मामले और 3,250 मौतों की कुल संख्या का अनुमान लगाया था। 16 मार्च तक चीन में कोरोना वायरस के कुल 80,298 मामले सामने आए और इससे करीब 3,245 मौतों हुई है। उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस को लेकर ओवररिएक्शन एक और संकट पैदा कर सकता है, मसलन रोजगार संकट और निराशा।


गरीब परिवार को घर पर ही भोजन

गरीबों की मदद के लिए लोनी तहसील में कंट्रोल रुम स्थापित
सुबह आठ से रात 10 बजे तक खुलेगा कंट्रोल रुम
गरीब परिवार को भोजन की निशुल्क होम डिलीवरी की जाऐगी
सुबोध गुप्ता
गाजियाबाद/लोनी। लॉक डाउन के दौरान क्षेत्र का कोई गरीब व असहाय भूखा न रहे प्रशासन ने उसे त्वरित सहायता पहुंचाने के लिए तहसील में कंट्रोल रुम स्थापित कर दिया है। कंट्रोल रुम दो पारियों में काम करेगा। जिनके मोबाइल नबंर भी जारी कर दिए गए हैं। कॉल मिलने कुछ ही देर में उसके घर भोजन पहुंच जाऐगा।
एसडीएम खालिद अंजुम खान ने बताया कि अंत्योदय कार्ड धारकों, असंगठित क्षेत्र के पात्र मजदूरों एवं अन्य आर्थिक रुप से कमजोर परिवारों को भरण-पोषण के लिए 01 अप्रैल से 20 किलो गेंहू व 15 किलो चावल निशुल्क वितरित किया जाएगा। जिनकी सूची बनाई जा रही है। सूची के बाद उनकी पात्रता की भी जांच कराई जाएगी। एसडीएम ने बताया कि गरीब व असहाय परिवारों को त्वरत सहायता पहुंचाने के लिए तहसील में कंट्रोल रुम बना दिया गया है। कंट्रोल रुम दो पालियों में काम करेगा। पहली पाली में सुबह 8:00 बजे से दोपहर 2:00 बजे तक राजस्व निरीक्षक राजीव त्यागी, खाद्य सुरक्षा अधिकारी धर्मेन्द्र कुमार, लेखपाल किरणपाल, आशुतोष एवं ललित कुमार तैनात रहेंगे। जबकि दूसरी पारी दोपहर 2:00 बजे से रात 10:00 बजे तक राजस्व निरीक्षक संजय कुमार, सीनियर मार्केटिंग इंस्पेक्टर रामचंद्र, लेखपाल राहुल, रामसिंह विरदी, सुजीत कुमार एवं प्रमोद उपाध्याय तैनात रहेंगे।
अगर क्षेत्र के किसी गरीब परिवार के घर में खाना नही है और वह प्रशासन से सहायता मांगता है तो कंट्रोल में सुबह आठ से दो बजे तक राजीव त्यागी के मोबाइल नम्बर 7500187014 पर तथा  दूसरी पारी दोपहर दो बजे से रात 10 बजे तक संजय कुमार के मोबाइल नम्बर 7011810416 पर कॉल करें। तत्काल उसकी कॉल रजिस्टर्ड की जाऐगी और कुछ ही देर में उसके घर तैयार भोजन का पैकेट पहुंचाया जाऐगा। भोजन पहुंचाने के लिए नगर पालिका के चार कर्मी बाइक लेकर सुबह आठ से रात 10 बजे तक कंट्रोल रुम में तैनात रहेंगे।
एसडीएम ने बताया कि कंट्रोल रुम गुरुवार शाम छह बजे से शुरु हो गया है। उन्होने अपील की है कि सभी क्षेत्रवासी लॉक डाउन का पालन करते हुए अपने घरों में रहें। प्रशासन उनकी हर संभव सहायता के लिए तैयार है। वह किसी तरह से अपने आपको असहाय न समझे ।


तरह-तरह की परेशानी आई सामने

लखनऊ। देश में जारी लॉकडाउन के दौरान लोगों को तरह-तरह की परेशानी उठानी पड़ रही है। कई लोगों के भूखे रहने की भी सूचनाएं मिल रही है। कई लोग सख्त कार्रवाई और बंदिशों से घबराए हुए भी है। इमरजेंसी नंबर यूपी 112 पर बुधवार दोपहर तक 1100 से अधिक फोन कॉल सिर्फ कालाबाजारी को लेकर आ चुकी हैं। इसमें सबसे अधिक शिकायतें लखनऊ और नोएडा से हैं।


एडीजी यूपी 112 असीम अरुण ने बताया कि यूपी में लॉकडाउन 23 मार्च से लागू है। पहले दिन जिन 16 जिलों में लॉकडाउन था वहां से 75 लोगों ने कालाबाजारी की शिकायत की थी। दूसरे दिन यह आंकड़ा 350 से अधिक रहा और बुधवार को यह आंकड़ा 700 के करीब पहुंच गया।


उन्होंने बताया कि लगातार लोग जरूरत के सामान को महंगा बेचने की शिकायत कर रहे हैं। फिलहाल मौके पर पुलिस पहुंच कर लोगों को समझा रही है और लोगों से एमआरपी से अधिक रेट पर सामान न बेचने को कह रही है। वहीं, अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी का कहना है कि ऐसे लोगों के खिलाफ सख्ती की जाएगी और रासुका के तहत कार्रवाई की जाएगी।


सऊदी से आई महिला, 8 को संक्रमण

नई दिल्ली। दिल्ली मोहल्ला क्लिनिक के एक डॉक्टर समेत 5 नए कोरोना पॉजिटिव केस सामने आए हैं। ऐसे में सवाल उठने लगे हैं कि क्या दिल्ली के मोहल्ला क्लनिक से कोरोना फैला? सऊदी से आई एक महिला मोहल्ला क्लनिक के डॉक्टर से मिली और यह वायरस डॉक्टर, उनकी पत्नी और बेटी समेत कुल 8 लोगों को संक्रमित कर गया।


आजतक से बातचीत में दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने माना कि इस मामले में 900 लोगों को निगरानी में रखा गया है। इन लोगों को क्वारनटीन में रखा गया है। बता दें कि गुरुवार दोपहर तक दिल्ली में कोरोना के कुल 35 मामले सामने आ चुके हैं। जैन ने बताया कि सऊदी से आई महिला के संपर्क में आने के बाद डॉक्टर की 12 मार्च को तबीयत खराब हुई। डॉक्टर फिलहाल अस्पताल में हैं और आईसीयू से बाहर आ चुके हैं।


सपा ने 50 करोड़ का सहयोग किया

संतकबीरनगर। समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता पूर्व विधायक अब्दुल कलाम ने कहा कि कोरोना वायरस से निपटने के लिए समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव सहित सपा के नेताओ ने 50 करोड़ रूपये आर्थिक सहायता भारत सरकार को दिया है। श्री कलाम बृहस्पतिवार को अपने आवास पर मीडिया से वार्ता करते हुए उक्त बातें कही। उन्होने कहा कि कोरोना वायरस महामारी बीमारी से देशवासी बचाव करें लाॅक डाउन में हिस्सा ले। उन्होने देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को बधाई देते हुए उनकी प्रशंसा करते हुए कहा कि देशवासियो के लिए उन्होने जो 21 दिन लाॅक डाउन का निर्णय लिया है। उसका वह सम्मान करते है लेकिन जनता की सुख सुविधाओ के लिए व्यापक स्तर पर व्यवस्था होनी चाहिए। उन्होने कहा कि पूरा विश्व परेशान है लेकिन दुर्भाग्य यह है कि लाॅक डाउन का उल्लघन स्वंय उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ कर रहे है। पिछले दिनो उन्होने अयोध्या में राम लला का शिला पूजन किया जिसमें सैकड़ो की भीड़ दिखाई दे रही थी कही भी दूरी नही दिखी। जब खुशहाली रहता है तब ईश्वर भी प्रसन्न रहता है प्रधानमंत्री को इस पर कार्यवाही करनी चाहिए। उन्होने कहा कि जनता के पास राशन नही है पशुओ को खिलाने के लिए चारा नही है। आम नागरिक भूखा रहने पर मजबूर है। मुख्यमंत्री को इंसानियत दिखाते हुए सबसे पहले जनता जनार्दन की सेवा करनी चाहिए। शिलान्यास की प्रक्रिया बाद में भी हो सकती थी। लाॅक डाउन के समय वह चुनाव की तैयारी कर रहे है जो बहुत ही निन्दनीय है। उन्होने कहा कि वर्तमान समय में कोरोना वायरस से निपटने के लिए मुख्यमंत्री के रूप में अखिलेश यादव को रहना चाहिए। समाजवादी पार्टी ने यह बता दिया है कि जनता के लिए अखिलेश यादव ही है। समाजवादी पार्टी ने 50 करोड़ रूपये आर्थिक दान देकर देशहित में कार्य किया है। पूर्व विधायक अब्दुल कलाम ने कहा कि आज किसा़न भूखा है गांव की जनता परेशान है। लाॅक डाउन के समय जनता के लिए महत्वपूर्ण सुविधाए होनी चाहिए जब देश बचेगा जनता बचेगी तब मन्दिर, मस्जिद, गुरूद्वारा व चर्च रहेगा। उन्होने कहा कि रिक्शा, ठेला चालक परेशान है पाबन्दी लगनी चाहिए लेकिन इसके साथ उसके लिए प्रबन्ध किया जाय।


अमेरिका में 700 की मौत, 54000 संक्रमित

वाशिंगटन। अमेरिका में कोरोना वायरस के एक दिन में ही करीब 10,000 मामले सामने आए हैं जबकि 150 अमेरिकियों ने इस संक्रमण से अपनी जान गंवा दी है। वहीं, राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने 12 अप्रैल यानी ईस्टर तक देश की अर्थव्यवस्था के पटरी पर आने की उम्मीद जताई है। लाखों अमेरिकियों के लॉकडाउन होने, नेशनल गार्ड और सैन्य बलों की कई राज्यों में तैनाती के बावजूद न्यूयॉर्क में ही कम से कम 53 लोगों की मौत हो गई और मंगलवार को कम से कम 5,000 नए मामले सामने आए। न्यूयॉर्क में अभी तक कोविड-19 के 25,000 से अधिक मामले सामने आए हैं और 210 लोगों की मौत हो चुकी है।


विड-19 के मामलों की जानकारी देने वाली वेबसाइट वर्ल्डोमीटर के अनुसार, अकेले मंगलवार को देशभर में संक्रमण के करीब 10,000 नए मामले सामने आए जिससे कोरोना वायरस के मामलों की कुल संख्या करीब 54,000 पहुंच गई जबकि एक ही दिन में 150 लोगों की मौत से मृतकों की कुल संख्या करीब 700 पर हो गई। न्यूयॉर्क, न्यू जर्सी के अलावा कैलिफोर्निया, मिशिगन, इलिनोइस और फ्लोरिडा भी कोरोना वायरस के केंद्र बन चुके हैं। हालांकि इस बीमारी की चपेट में सबसे पहले आए वाशिंगटन राज्य में कोई नया मामला या मौत की खबर नहीं आई है।
ट्रम्प ने मंगलवार को पत्रकारों से कहा कि उन्हें उम्मीद है कि करीब तीन हफ्तों यानी ईस्टर तक स्थिति सामान्य हो जाएगी। ईस्टर 12 अप्रैल को है। राष्ट्रपति ने कहा, ”मैं हर किसी को सामाजिक दूरी बनाने, बड़ी संख्या में एकत्रित होने से बचने, हाथ धोने और अन्य चीजों का पालन करने के लिए प्रेरित करना चाहता हूं। अंतत: हमारा लक्ष्य दिशा निर्देशों में ढील देना और देश के बड़े वर्ग के लिए चीजें सामान्य करना है।ÓÓ उन्होंने कहा, ”मुझे उम्मीद है कि हम ईस्टर तक यह कर सकते हैं। मुझे लगता है कि यह हमारे देश के लिए बड़ी चीज होगी और हम इसे सच्चाई में बदलने के लिए कड़ी मेहनत कर रहे हैं।ÓÓ साथ ही उन्होंने उम्मीद जताई कि कांग्रेस दो हजार अरब डॉलर के उस विधेयक को जल्द ही पारित कर देगी जिससे संघर्षरत अमेरिकियों को सीधे नकद भुगतान किया जा सकेगा।


व्हाइट हाउस कोरोना वायरस कार्य बल की संयोजक देबराह एल बिर्क्स ने पत्रकारों को बताया कि अभी तक 3,70,000 जांच की जा चुकी है जिनमें से 2,20000 लोगों की जांच पिछले आठ दिनों में की गई। उन्होंने कहा कि जांच बढ़ेगी क्योंकि सरकार अब भी पिछले नमूनों की जांच पर काम कर रही है। इस बीच, अमेरिका में कोरोना वायरस से जिस पहले बच्चे की मौत की खबर आई थी असल में वह एक किशोर था जिसकी संक्रामक रोग की चपेट में आने से पहले अच्छी सेहत थी। लॉस एंजिलिस के उत्तर में लैनकास्टर के किशोर की मौत से कुछ घंटों पहले जन स्वास्थ्य अधिकारियों ने कहा कि यह बीमारी नाबालिग लोगों के लिए उतनी गंभीर नहीं है।
लॉस एंजिलिस के मेयर एरिक गारसेत्ती ने कहा, ”अच्छी सेहत वाले एक किशोर की इस विषाणु से मौत हो गई।ÓÓ उन्होंने कहा, ”युवा लोगों को भी यह निशाना बना सकता है। जानिए कि आपके रवैये से जान बच सकती है और जान जा भी सकती है। और वह जान आपकी हो सकती है।ÓÓ मृतक की पहचान और वह लड़का है या लड़की, इसका खुलासा नहीं किया गया है।


निर्देश, आवाजाही पर रखे निगरानी

ग्राम प्रधान व पंचायत सचिवों को सख्त निर्देश, गांव में बाहर से व्यक्ति आए तो प्रसाशन को दें सूचना
 विक्रम सिंह यादव
लखनऊ। ग्रामीण क्षेत्रों में कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए बाहरी लोगों की आवाजाही पर निगरानी की जा रही है। अन्य स्थानों खासकर विदेश और दूसरे राज्यों से आने वाले लोगों की सूचना जिला प्रशासन को देने के निर्देश दिए गए है। ग्राम प्रधानों व पंचायत सचिवों को कहा गया है कि इस कार्य में कोई ढिलाई न बरतें। जिला पंचायतीराज अधिकारियों को अपने क्षेत्र में नियमित निगरानी करने को कहा गया है। उधर, मुख्यमंत्री कार्यालय से भी ग्राम प्रधानों से सीधे बात करके कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए जरूरी उपाय करने के निर्देश देते हुए स्थानीय हालात की जानकारी भी जुटाई जा रही है।पंचायतीराज मंत्री भूपेंद्र सिंह ने बताया कि ग्रामीण क्षेत्रों में गली मोहल्लों व नालियों आदि की नियमित सफाई के अलावा सार्वजनिक स्थानों की स्वच्छता पर विशेष ध्यान देने को कहा गया है। लोगों में जागरूकता फैलाने के साथ समूह में एकत्र न होने देने को कहा गया है। बाहर से आने वाले व्यक्ति की तत्काल सूचना देने के अलावा उसकी सेहत की निगरानी भी करनी होगी। बुखार खांसी होने पर तुरंत जिला चिकित्साधिकारी या प्रशासनिक अधिकारी को सूचना देनी होगी। पंचायत प्रतिनिधि संघ के संयोजक राम सिंह वर्मा व राममेहर सिंह का कहना है कि जिला पंचायत, ब्लाक व ग्राम पंचायत सदस्य भी इस आपातकाल में सक्रियता से बचाव कार्य में जुटे हैं।



प्रदेश की वित्तीय सेहत पर नजर

विक्रम सिंह यादव
लखनऊ। सरकार के निशाने पर कोरोना वायरस और प्राथमिकता पर जनता का स्वास्थ्य और सहूलियत है, लेकिन इसके साथ ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की नजर प्रदेश की वित्तीय सेहत पर भी है। गुरुवार को लॉकडाउन की समीक्षा बैठक में सीएम योगी का जोर आवश्यक वस्तुओं की व्यवस्थित होम डिलीवरी पर था। अधिकारियों को उन्होंने कालाबाजारी और मुनाफाखोरी करने वालों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने के सख्त निर्देश दिए। जरूरत पड़ने पर राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (एनएसए) के तहत कार्रवाई करने को भी कहा। मुख्यमंत्री ने अतिवृष्टि, ओलावृष्टि और लॉकडाउन से हुए आर्थिक नुकसान के आकलन और उसकी भरपाई का रोडमैप बनाने के लिए उच्चस्तरीय समिति भी गठित कर दी है।मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गुरुवार को अपने सरकारी आवास पर समीक्षा बैठक में होम डिलीवरी सिस्टम को मजबूत करने के लिए स्वयंसेवी संस्थाओं के साथ समन्वय कर वॉलेंटियर्स तैयार करने के निर्देश दिए। सब्जी, दूध, दवा आदि की होम डिलीवरी में 14 हजार से अधिक वाहन लगाए गए हैं। जरूरत पड़ने पर लोग 112, 108 और 102 नंबर पर संपर्क कर सकते हैं। 108 और 102 सेवा की एंबुलेंस से घरों में दवा पहुंचाने के लिए भी कहा गया है। मुख्यमंत्री ने सीमावर्ती जिलों के प्रशासन को निर्देश दिए हैं कि जो भी व्यक्ति प्रदेश में आश्रय स्थलों, रैन बसेरों आदि में रुके हैं, उनके लिए भोजन और पानी की व्यवस्था की जाए।सीएम हेल्पलाइन के जरिये 60 हजार से अधिक ग्राम प्रधानों को कोरोना से बचाव और इलाज की जानकारी देने के साथ ही ग्राम पंचायतों की जानकारी भी ली जा रही है। सीएम योगी ने कोरोना की आपदा से निपटने के लिए गठित कमेटियों से पारस्परिक समन्वय के साथ काम करने को कहा है। चिकित्सा शिक्षा एवं स्वास्थ्य विभाग के संविदा कर्मियों के मानदेय का भुगतान भी जल्द करने के निर्देश दिए गए हैं।मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ  ने अपर मुख्य सचिव वित्त की अध्यक्षता में एक कमेटी का गठन किया है। यह कमेटी विगत दिनों प्रदेश में हुई अतिवृष्टि, ओलावृष्टि और लॉकडाउन के दौरान उद्योगों के बंद होने से अर्थव्यवस्था पर पड़ने वाले प्रभाव का आकलन कर इससे निपटने के लिए भविष्य का रोडमैप बनाने का कार्य करेगी। वहीं, प्रमुख सचिव पंचायती राज व ग्राम्य विकास की अध्यक्षता में एक कमेटी बनाई गई है, जो शहर और ग्रामीण इलाकों में स्वच्छता कार्यक्रम का जिम्मा संभालेगी। बैठक में मुख्य सचिव आरके तिवारी सहित विभिन्न विभागों के शीर्ष अधिकारी उपस्थित थे।किसानों की राहत के लिए लॉकडाउन के दौरान तैयार हो रही गेहूं व आलू की फसल के लिए प्रोक्योरमेंट की कार्ययोजना बनाने के निर्देश मुख्यमंत्री ने प्रमुख सचिव कृषि तथा प्रमुख सचिव खाद्य एवं रसद को दिए हैं। अधिकारियों से ऐसी व्यवस्था बनाने को कहा गया है कि जिससे मंडियों में सब्जी आदि की आवक बनी रहे और घरों तक उसका वितरण भी किया जा सके। उन्होंने प्रमुख सचिव पशुपालन को दूध की आवक और वितरण तथा पशुओं के चारे की आपूर्ति व्यवस्था बनाए रखने के भी निर्देश दिए।


गेहूं के आटे की मिले चालू रहनी चाहिए

ज़रूरतमंदों को तत्काल सहायता उपलब्ध कराई जाए


देहरादून। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने देर सांय वीडियो कांफ्रेंसिग द्वारा प्रदेश में कोरोना वायरस की अद्यतन स्थिति और इसके संक्रमण को कम करने के लिए की गई तैयारियों की विस्तृत समीक्षा की। मुख्यमंत्री ने निर्देश दिये कि गेहूं की आटा मिलें चलती रहें, ये सुनिश्चित कर लिया जाए। पंजीकृत और अन्य श्रमिकों व अन्य ज़रूरतमंदों को तत्काल सहायता उपलब्ध कराई जाए। आवश्यक सावधानियां बरतते हुए फार्मा इंडस्ट्री चलती रहें। जो लोग बाहर से आ रहे हैं, उनको होम क्वारेंटाईन कराया जाए। कोरोना संदिग्ध लोगों जिनकी रिपोर्ट लम्बित है, को सख्ती के साथ घर पर क्वारेंटाईन किया जाए। इस पर लगातार चैकिंग भी की जाए। जिलाधिकारी इनको क्रास चेक करा लें। जिलों में होम डिलीवरी व्यवस्था को मजबूत करें। सोशल डिस्टेंसिंग का अनुपालन सुनिश्चित किया जाए। मुख्यमंत्री ने अभी तक की स्थिति पर संतोष व्यक्त करते हुए कहा कि इसी प्रकार आपसी समन्वय से आगे भी काम करना है। कोई  छोटी से छोटी कोताही भी नहीं होनी चाहिए। मुख्यमंत्री ने कहा कि आवश्यकता होने पर देहरादून व हल्द्वानी में 500 बेड के प्री फैब कोरोना अस्पताल बनाए जा सकते हैं, इसके लिए संबंधित जिलाधिकारी 5 एकङ भूमि चयनित कर लें। जिन भी सीएमओ व अन्य अधिकारियों के नम्बर सार्वजनिक कर रहे हैं उन्हें सहायक भी दे दे। छोटी आटा चक्कियो को चलने दे। थोक सप्लाई को न रोके। दुकानों पर रेट लिस्ट अवश्य लगें। फूड प्रोसेसिंग से संबंधित फेक्ट्री चलती रहें।  कल मार्केट आवश्यक वस्तुओं के लिए सुबह 7 से दोपहर 1 बजे तक खुले रहेंगे। ऐसा इसलिए किया जा रहा है क्योंकि कम समय होने पर भीङ एक साथ आ जाती है। फल सब्जी, दूध दिनभर उपलब्ध होगी। सब्जियों की ठेलिया चल सकती हैं। चार पहिया वाहन पूरी तरह बंद रहेंगे। दोपहिया वाहन सुबह 7 से दोपहर 1 बजे तक चलेंगे परंतु इनपर एक ही व्यक्ति बैठेगा।  बैठक में सचिव नितेश झा ने बताया कि अभी उत्तराखंड कोरोना के फेज एक में ही है। यहां पाए गए पाजिटिव केस बाहर से आए हुए हैं। स्थानीय संक्रमण नहीं हुआ है। सोशल डिस्टेंसिंग रखने में सफल रहे तो राज्य में कोरोना मामलों को रोकने में अवश्य कामयाब रहेंगे। आयुष चिकित्सकों की सेवाएं भी ली जाएंगी। जिला चिकित्सालयों में कोरोना स्पेसिफिक अस्पताल स्थापित कर रहे हैं। आवश्यक दवाओं और उपकरणों की व्यवस्था की गई है। सचिव सुशील कुमार ने बताया कि खाद्यान्न पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध है। बैठक में मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह, डीजीपी अनिल कुमार रतूङी, सचिव अमित नेगी अन्य शासन के वरिष्ठ अधिकारी, जिलाधिकारी और अन्य अधिकारी उपस्थित थे।



भाजपाः जरूरी पूर्ति के लिए फोन करें

अंबिकापुर। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा देश में 21 दिन के लिए लॉकडाउन घोषित किया गया है। भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा व भाजपा प्रदेश संगठन के आह्वान पर भाजपा सरगुजा जिलाध्यक्ष अखिलेश सोनी ने कोरोना महामारी से उत्पन्न स्थिति की गम्भीरता को देखते हुए लॉकडाउन के दौरान आम नागरिकों एवं जरूरतमंदों की सहायता हेतु एक वालिंटियर हेल्प लाइन टीम का गठन किया है। यह टीम भोजन सहित अन्य आपातकालीन जरूरतों की पूर्ति हेतु हर संभव सहयोग के लिए सदैव तत्पर रहेगी।



ये हैं भाजपा की टीम व उनके मोबाइल नंबर
गठित टीम में लेखराज अग्रवाल विजय मार्ग 7000721500, विनोद हर्ष मायापुर 9406090493, मंजूषा भगत फुंदुरडिहारी 9340150378, मनोज गुप्ता नावापारा 9826171391, संजय सोनी सत्तीपारा 9826184946, दीपक सिंह तोमर नमनाकला 9826384173, विकास पाण्डेय बौरीपारा 9826305168, वेदप्रकाश शर्मा पटपरीया 9826133078, जफर खान गोधनपुर 9826196624, विकास गुप्ता महामाया रोड 9826172478़,विपिन पाण्डेय गांधीनगर 9009536523, शानु कश्यप सदर रोड़ 9575192551, वेदांत तिवारी जय स्तम्भ चौक 7000751698, संजीव वर्मा डीसी रोड 6265207660, अंशुल श्रीवास्तव दर्रीपारा 9685596111, अनीश सिंह केनाबांध 75665192551, संजीव वर्मा ब्रम्हरोड 7999904977, भूपेश यादव केदारपुर 7987208738, हर्ष जायसवाल बौरीपारा 9826645485, सर्वेश तिवारी दर्रीपारा 9826175363, कृष्णा सोनी जोडा पीपल 7000672544,वीर सोनी मायापुर 8962675667, दिव्यांशु केशरी सदर रोड 7987326077 व गोल्डी छाबडा बनारस रोड 9826601501 को सम्मिलित किया गया है। जरूरतमंद लोगों के आग्रह है कि आपातकालीन स्थिति में किसी प्रकार की जरूरत होने पर उक्त व्यक्तियों के मोबाइल नंबर पर मदद हेतु संपर्क करे सकते हैं।


पार्षदों को भी मदद के लिए गए हैं निर्देश
भाजपा ने नगर पालिक निगम अम्बिकापुर के समस्त पार्षदों एवं पार्षद प्रत्याशियों को सजग रहकर अपने-अपने वार्डों में मुस्तैदी से जरूरतमंदों को हरसंभव मदद करने को निर्देशित किया गया है। इसके अलावा पार्टी द्वारा सभी भाजपा मंडल अध्यक्षों को अपने अपने मण्डलों में टीम गठित कर जरूरतमंदों की सेवा हेतु तत्पर रहने को कहा गया है।


100 परिवारों को होम आइसोलेशन

चंद्रकांत देवांगन


दुर्ग। भिलाई के सेक्टर 11 खुर्सीपार जोन-2 निवासी युवक की जांच रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव होने की पुष्टि हो गई है। युवक को बीती रात इलाज के लिए रायपुर स्थित एम्स अस्पताल में भर्ती कराया गया था। जहां उसकी हालत सामान्य बताई जा रही है।


बताया जा रहा है कि युवक 10 तारीख को दुबई से लौटा था। उसे होम आइसोलेशन में रखा गया था और सैंपल जांच के लिए भेजा गया था। युवक के परिवारजनों के भी सैम्पल ले लिए गए हैं और जांच के लिए भेजे जा चुके हैं। परिवार के सभी सदस्यों का क्वारन्टीन कर दिया गया है। इसके साथ ही युवक के घर के आसपास के 100 परिवारों को होम आइसोलेशन में रखा गया है। उन्हें घर से बाहर नहीं निकलने की सख्त हिदायत दी गई है। मोहल्ले की सभी दुकानें बंद कर दी गई हैं। स्वास्थ्य अमला इलाके में सक्रिय है और सतत निगरानी रखे हुए है। पूरे इलाके को सैनीटाइज किया जा रहा है। कलेक्टर अंकित आनंद ने जिले के सभी नागरिकों से अपील की है कि अति आवश्यक कारण के बिना घर से कतई नहीं निकले।


सब्जी मंडियों में देखी गई लापरवाही

जौनपुर । नगर के लाइन बाजार थाना क्षेत्र के नवीन मण्डी स्थल पर मना करने के बाद भी अभी भी भारी भीड़ उमड़ी देखी जा रही है। लोग धक्का-मुक्की करते नजर आ रहे हैं। यदि ईश्वर न करें कि किसी को कोरोना वायरस सम्बन्धित बीमारी हो तो स्थिति कितनी भयावह हो सकती है।


लोग अभी भी बिना मास्क लगाये देखे जा सकते है। मण्डी समिति के पदाधिकारी व जिला प्रशासन को इस पर विचार-विमर्श करना चाहिये कि भीड़ ज्यादा मण्डी में न जमा हो। हालांकि मण्डी समिति से जुड़े महेन्द्र सोनकर द्वारा ध्वनि विस्तारक यंत्र के माध्यम से बराबर कहा जा रहा है कि बिना मास्क लगाये कोई मण्डी में न आये।


वहीं दुकानदारों से कह रहे हैं कि निर्धारित दर पर ही लोगों को सामान उपलब्ध करायें तथा दुकान पर भीड़ न लगायें। फिलहाल भीड़ को देखते हुये मण्डी समिति को ठोस ठोस निर्णय लेने की आवश्यकता है जिसके लिये जिला प्रशासन का सहयोग जरूरी है। परिसर में लगने वाली सब्जियों की दुकानों व ग्राहकों के बीच की दूरी तय सीमा की परिधि में हो।


भारी बारिश और ओलावृष्टि का अलर्ट

देहरादून। उत्तराखंड में मौसम विभाग ने मैदानी इलाकों में भारी बारिश और ओलावृष्टि का अलर्ट जारी किया  है। साथ ही कुछ पर्वतीय क्षेत्रों में आकाशीय बिजली गिरने की भी आशंका जताई गई है। इसको देखते हुए अलर्ट जारी किया है।


मौसम विभाग ने शुक्रवार को प्रदेश के ज्यादातर इलाकों में भारी बारिश और बर्फबारी की चेतावनी दी है। बुलेटिन के अनुसार ज्यादातर इलाकों में हल्के बादल छाए रह सकते हैं। कुछ इलाकों में गरज और चमक के साथ बारिश भी हो सकती है। वहीं पहाड़ी क्षेत्रों में ओलावृष्टि और आकाशीय बिजली भी गिर सकती है।


उत्तरकाशी, चमोली, रुद्रप्रयाग, पिथौरागढ़, बागेश्वर जिलों के कई क्षेत्रों में भारी बारिश हो सकती है। इन सभी जिलों के ऊंचाई वाले इलाकों में भारी बर्फबारी होने का अनुमान है।पर्वतीय क्षेत्रों में ओले गिरने और आकाशीय बिजली गिरने की आशंका है। मौसम विभाग के अनुसार देहरादून, हरिद्वार, पौड़ी, नैनीताल और ऊधमसिंह नगर के कई इलाकों में 50 से 60 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से तेज आंधी चल सकती है।


श्रीनगर में एक मौत, चिंता बढ़ाई

कृष्ण पनगोत्रा 


श्रीनगर। केंद्र शासित राज्य जम्मू-कश्मीर का आवाम संतोष महसूस कर रहा था कि अब तक करोना वायरस के कारण मौत ने दस्तक नहीं दी। लेकिन 26 मार्च को सुबह की खबर ने संतोष की अनुभूति पर चिंता की परतें चढ़ा दी। 


श्रीनगर शहर के हैदरपुरा से 65 साल के एक बुजुर्ग की पहली मौत इस लिहाज़ से भी फिक्र का अहसास करवाती है कि उस शख्स ने एक ऐसी गलती कर दी जिससे वो तो दुनिया से रुखस्त हो गया मगर जाने कितनों की जिंदगी खतरे में डाल गया। बताया जा रहा है कि वो बाहिरी प्रदेश से आ कर जम्मू शहर से सटे भीड़भाड़ वाले क्षेत्र बाड़ी ब्रहम्णा से होता हुआ वाया जम्मू कश्मीर सूबा स्थित श्रीनगर पहुंचा। यात्रा के विवरण की जानकारी छिपाने और सही समय पर चिकित्सीय परीक्षण को लेकर लापरवाही से बुजुर्ग तो दुनिया छोड़ गया, मगर आवाम के साथ शासन-प्रशासन की फ़िक्रमंदी को बढ़ा डाला। कर्त्तव्य के प्रति लापरवाही की एक और घटना तब घटी जब बांग्लादेश से प्रदेश में पहुंची छह लड़कियों को जम्मू शहर की प्रसिद्ध पाश कॉलोनी छन्नी हिम्मत से पकड़ा गया। चिंता और आशंका की बात यह है कि वो छह लड़कियां छन्नी हिम्मत के अलावा जाने किस-किस जगह घूमी होंगी! कितने लोगों के संपर्क में आई होंगी! कोरोना वायरस को लेकर जम्मू-कश्मीर में स्थिति गंभीर होती जा रही है। कठुआ के पहाड़ी इलाकों तक वायरस के संक्रमण की अाशंका है। पंजाब से सटे कठुआ जिला में 1200 लोगों को क्वारंटीन में रखा गया है। इसके साथ ही प्रदेश में अब कोरोना मरीजों की संख्या बढ़कर 11 पहुंच गई है। इसमें कश्मीर में आठ और जम्मू में तीन मरीज हैं। इस बीच राज्य सरकार ने सभी दफ्तरों को 14 अप्रैल तक के लिए बंद कर दिया है। सरकारी सुविधाओं का जायज़ाः पेंशनधारकों की सहूलियत के लिए सभी प्रकार के पेंशन तत्काल जारी करने के आदेश किए गए हैं। प्रशासन की ओर से पांच हजार लोगों के क्वारंटीन की व्यवस्था की जा रही है। इसके लिए होटल, स्कूल परिसर चिह्नित किए गए हैं। प्रदेश सरकार ने जम्मू कश्मीर में 14 अप्रैल तक जरूरी सेवाओं वाले कार्यालयों को छोड़ अन्य सभी सरकारी कार्यालयों को 14 अप्रैल तक बंद कर दिया है। प्रदेश सरकार के प्रवक्ता रोहित कंसल के अनुसार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 21 दिवसीय देश व्यापी लॉकडाउन को जम्मू कश्मीर में सफल बनाने के लिए सरकार हर मुमकिन कदम उठाएगी। वहीं, उपराज्यपाल गिरीश चंद्र मुर्मू की अध्यक्षता में प्रशासनिक परिषद ने कोरोना वायरस से उत्पन्न हुए हालात को देखते हुए रिटायर्ड कर्मचारियों की पेंशन को तत्काल जारी करने के निर्देश वित्त विभाग को जारी किए हैं। प्रशासनिक परिषद के फैसले से प्रदेश के करीब डेढ़ लाख पेंशन धारकों को लाभ मिलेगा। उल्लेखनीय हैं कि प्रशासनिक परिषद ने इससे पूर्व डेलीवेजरों को एक महीने का वेतन तत्काल जारी करने के निर्देश दिए थे। इसके अलावा राशन कार्ड धारकों को दो महीने का एडवांस राशन भी जारी करने का फैसला लिया चुका है। लॉकडाउन का सख्ती से हो रहा पालनः जम्मू-कश्मीर के प्रवेशद्वार लखनपुर से लेकर पूरे प्रदेश तथा लद्दाख में लॉकडाउन रहा। प्रशासन की ओर से सख्ती भी रही। बाहर निकलने वालों को घर भेजा गया। इसके साथ ही आदेश का अनुपालन न करने पर मुकदमा दर्ज करने के साथ गिरफ्तारियां भी की गईं। कई वाहन सीज किए गए। जुर्माना भी लगाया गया। हालांकि, दवा, दूध, फल-सब्जी समेत अन्य आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति सुचारू रही। जम्मू, डोडा, किश्तवाड़ समेत कई जगहों पर राशन वितरण शुरू कर दिया गया है। श्रीनगर में  मोहल्लों में भी भीड़ जुटने से रोकने को अर्धसैनिक बलों की तैनाती की गई है। यहां 28 मार्च से पीडीएस राशन की होम डिलीवरी शुरू होगी। श्रीनगर में संदिग्ध मरीज अस्पताल से भागाः श्रीनगर के डलगेट स्थित चेस्ट अस्पताल से कोरोना का एक संदिग्ध मरीज भाग निकला। बटमालू के 23 वर्षीय युवक को अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती किया गया था। उसका सैंपल जांच के लिए मंगलवार को भेजा गया। वह हंगरी से लौटा था। पिछले सप्ताह भी सऊदी अरब से पहुंची एक महिला भी अस्पताल से भाग निकली थी। बाद में उसे अस्पताल लाया गया। हालांकि, उसकी रिपोर्ट निगेटिव आई थी।


मादक पदार्थ के साथ तीन गिरफ्तार

अतुल त्यागी जिला प्रभारी
रिंकू सैनी/मुकेश सैनी/मयंक त्यागी
सवा 2 किलो गांजे के साथ तीन तस्कर गिरफ्तार 



हापुड़। जनपद हापुड़ के थाना हापुड़ देहात पुलिस द्वारा तीन तस्करो को गिरफ्तार किया तथा उनका 1 साथी फरार होने में कामयाब रहा। थाना हापुड़ पुलिस द्वारा आज 2 किलो 250 ग्राम गांजा के साथ तीन अभियुक्तों को गिरफ्तार किया जिनके कब्जे से ₹85000 नकद भी बरामद किए गए। थाना हापुड़ देहात प्रभारी राजेश भारती ने बताया कि उपनिरीक्षक सुमित तोमर व उसके सहयोग द्वारा यह गिरफ्तारी की गई। उपनिरीक्षक सुमित तोमर को सूचना मिली कि देव नंदिनी अस्पताल के सामने चार युवक खड़े हैं जो गांजे की सप्लाई करने के लिए आए हैं जिस पर पुलिस बल ने मौके पर पहुंचकर अभियुक्तों का पीछा किया जिसमें तीन अभियुक्त पुलिस के हत्थे चढ़ गए लेकिन एक भागने में कामयाब रहा कांस्टेबल अक्षय द्वारा उसका पीछा किया गया लेकिन वह भागने में सफल रहा। भागने वाला लड़का जानू  मुदाफरा थाना हापुड़  देहात का रहने वाला है वह गांजे का काम करता है। पकड़े गए अभियुक्तों से जब उनका नाम व पता पूछा गया तो उन्होंने बताया एक का नाम जाने आलम पुत्र नवाब सिंह निवासी गोंदी थाना  हापुड़ देहात दूसरा विपिन पुत्र बचन सिंह साकेत कॉलोनी तीसरा करन पुत्र शरादू चीनी मिल मुरादपुर थाना सिंभावली जनपद हापुड़ का रहने वाला है। तीनों अभियुक्तों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया।


विधायक ने बांटी आवश्यक सामग्री

अतुल त्यागी जिला प्रभारी
रिंकू सैनी/मुकेश सैनी/मयंक त्यागी रिपोर्टर
 विधायक द्वारा जरूरतमंदों को वितरित की आवश्यक सामग्री 


हापुड़। कोरोना वायरस के चलते जनपद में लॉकआउट  है जिसके कारण आम जनमानस को खाद्य पदार्थ खरीदने में अत्याधिक दिक्कत आ रही है। उन्हों के पास पैसे का भी अभाव है ऐसे में सदर विधायक विजयपाल आढ़ती ने जरूरतमंदों को वितरित किया खाद्य सामग्री हापुड़ सदर विधायक द्वारा जरूरतमंदों को आटे के कट्टे व अन्य सामान देकर उनकी सहायता की गई। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि वे लोग सभी सचेत रहें वह सफाई का विशेष ध्यान रखें बिना किसी जरूरत के सड़कों पर ना निकले और समय-समय पर अपने हाथों को साबुन से तुम्हें क्योंकि सफाई ही इस समस्या का समाधान है। इस वायरस को हराना है तो सफाई नियमित करें।


या देवी सर्वभूतेषु मां चंद्रघंटा रुपेण संस्थिता।

मां चंद्रघंटा की कृपा से साधक के समस्त पाप और बाधाएँ विनष्ट हो जाती हैं। इनकी आराधना सद्यः फलदायी है। माँ भक्तों के कष्ट का निवारण शीघ्र ही कर देती हैं। इनका उपासक सिंह की तरह पराक्रमी और निर्भय हो जाता है। इनके घंटे की ध्वनि सदा अपने भक्तों को प्रेतबाधा से रक्षा करती है। इनका ध्यान करते ही शरणागत की रक्षा के लिए इस घंटे की ध्वनि निनादित हो उठती है।माँ का स्वरूप अत्यंत सौम्यता एवं शांति से परिपूर्ण रहता है। इनकी आराधना से वीरता-निर्भयता के साथ ही सौम्यता एवं विनम्रता का विकास होकर मुख, नेत्र तथा संपूर्ण काया में कांति-गुण की वृद्धि होती है। स्वर में दिव्य, अलौकिक माधुर्य का समावेश हो जाता है। माँ चंद्रघंटा के भक्त और उपासक जहाँ भी जाते हैं लोग उन्हें देखकर शांति और सुख का अनुभव करते हैं।


माँ के आराधक के शरीर से दिव्य प्रकाशयुक्त परमाणुओं का अदृश्य विकिरण होता रहता है। यह दिव्य क्रिया साधारण चक्षुओं से दिखाई नहीं देती, किन्तु साधक और उसके संपर्क में आने वाले लोग इस बात का अनुभव भली-भाँति करते रहते हैं।


हमें चाहिए कि अपने मन, वचन, कर्म एवं काया को विहित विधि-विधान के अनुसार पूर्णतः परिशुद्ध एवं पवित्र करके माँ चंद्रघंटा के शरणागत होकर उनकी उपासना-आराधना में तत्पर हों। उनकी उपासना से हम समस्त सांसारिक कष्टों से विमुक्त होकर सहज ही परमपद के अधिकारी बन सकते हैं।


हमें निरंतर उनके पवित्र विग्रह को ध्यान में रखते हुए साधना की ओर अग्रसर होने का प्रयत्न करना चाहिए। उनका ध्यान हमारे इहलोक और परलोक दोनों के लिए परम कल्याणकारी और सद्गति देने वाला है। प्रत्येक सर्वसाधारण के लिए आराधना योग्य यह श्लोक सरल और स्पष्ट है। माँ जगदम्बे की भक्ति पाने के लिए इसे कंठस्थ कर नवरात्रि में तृतीय दिन इसका जाप करना चाहिए।


या देवी सर्वभू‍तेषु माँ चंद्रघंटा रूपेण संस्थिता।
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।।


अर्थ : हे माँ! सर्वत्र विराजमान और चंद्रघंटा के रूप में प्रसिद्ध अम्बे, आपको मेरा बार-बार प्रणाम है। या मैं आपको बारंबार प्रणाम करता हूँ। हे माँ, मुझे सब पापों से मुक्ति प्रदान करें।


इस दिन सांवली रंग की ऐसी विवाहित महिला जिसके चेहरे पर तेज हो, को बुलाकर उनका पूजन करना चाहिए। भोजन में दही और हलवा खिलाएँ। भेंट में कलश और मंदिर की घंटी भेंट करना चाहिए।


एक पहचान 'संपादकीय'

एक पहचान    'संपादकीय' 


नहीं वरण हुआ, अभी तक कुंवारी है।
जन, गण के मन में बड़ी दुश्वरी है। 
लाखो जिंदगी मौत के घाट उतारी है। 
गली-चौराहा, शहर सारा खामोश बडा हैं। 
संदेश को समझो, आदेश सरकारी है। 
बंदिशों का दौर नहीं, अगर जिंदगी प्यारी है।
मरना है तुझको ऐ गरीब, यह तेरी लाचारी है।
रखवाली पर बैठा तेरी, बड़ा व्याभिचारी है।
लाश भी नहीं छुएगा कोई, ऐसी महामारी है।
नहीं वरण हुआ, अभी तक कुंवारी है।....



       विश्व में कोविड-19 नामक महामारी ने परिवर्तन की एक बयार चला दी है। कई देशों को इसका भयानक परिणाम झेलना पड़ रहा है। हमारा देश भी उसी रास्ते पर चल रहा है। देश की जनता ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आह्वान पर और कोरोना के भय के कारण 'लॉक डाउन' का समर्थन तो किया है। लेकिन अक्षमता हीन वर्ग की इतनी बड़ी उपेक्षा इससे पूर्व कभी नही हुई है और संभवतः भविष्य में भी ना हो। विश्व की सबसे बड़ी लोकतांत्रिक व्यवस्था भारत की पहचान विश्व में "गाय, गरीब और गांधी" से होती है। गाय के नाम पर देश में राजनीति तो खूब होती है। सेवा और सद्भावना कचरा चाट रही है। 'गांधी' एक ऐसा विषय है, जिसे छेड़ने मात्र से छेड़ने वाले का अस्तित्व ही समाप्त हो जाएगा। चाहे वह कितना ही बड़ा और बुद्धिमान राजनीतिज्ञ क्यों ना हो। अब हमारी वैश्विक पहचान का सबसे बड़ा कारण गरीबी है। देश की कुल आबादी का 40% भाग गरीब है। यह देश के पंजीकृत गरीब है। जो उनसे भी गरीब है यह साधारण भाषा में 'महान गरीब' है। उनकी बला से झाड़ पर बैठी है सरकार और उसकी योजनाएं। ऐसे महान गरीबों को दरकिनार कर दिया जाए तो सरकार की 'लॉक डाउन' में जनसेवा की गाथा विश्व में अवश्य प्रसिद्ध होगी। क्योंकि कोरोना महामारी क्या करेगी या क्या नहीं करेगी? यह दूर की कौड़ी है। अपने कार्यालयों में बैठकर चिकनी-चुपड़ी बातों से गरीब, मजदूर और जरूरतमंद का पेट नहीं भरेगा। दूध मुंहे बच्चों की किलकारी पर कोई असर नहीं पड़ेगा। इसके समाधान के लिए लंबी-लंबी बात हांकने के अलावा धरातल पर कुछ भी नजर नहीं आता है। क्या मजाक बन गया है, सिद्ध पुरुष और शक्तिशाली लोग गाल बजाने के अलावा कुछ नहीं कर रहे हैं? देश की गरीब जनता के सामने विभिन्न प्रकार की समस्याएं उत्पन्न हो चुकी है। छोटी-छोटी, सामान्य समस्याएं भी वृहद और विकराल हो गई है। जिसके समाधान का कोई मार्ग प्रशस्त नहीं किया गया है। यदि इस पर कार्य किया भी जा रहा है। उसके क्या परिणाम होगे, इसका अनुमान नहीं लगाया जा सकता है।
 वर्तमान ऐसा सुनहरा अवसर लेकर आया है। जिसका सही ढंग से उपयोग करने पर गरीब-मजदूर वर्ग का एक बड़ा हिस्सा नष्ट हो सकता है। क्योंकि साथ में कोरोना वायरस के जैसी ढाल भी है। पता नहीं फिर ऐसा मौका मिले, ना मिले।


राधेश्याम 'निर्भयपुत्र'


एक और वायरस 'समसामयिक'

जब जिंदगी पर बाजारी कलाओं का तानाशाहनुमा कब्जा!


आज का सच भी कि कुछ भी बहुत ज्यादा हो जाना अच्छा नहीं माना जाता है!


कुदरत का नियम है, कुल आसक्ति की चरम स्थिति के बाद विरक्ति शुरू होती!


अब वक्त आ गया कि इस असामाजिक रास्ते को छोड़ दें,ओर जिंदगी के बारे चिंतन करें!


संचार व्यवसाय की बाजारी ताकतों ने काफी पहले दुनिया पर कब्जा करना शुरू कर दिया था। कहा जाने लगा था कि दुनिया मुट्ठी में सिमट गई है। सही तरीके से हिसाब किया जाए तो संचार व्यवस्था का गहन प्रभाव रोम-रोम में घुस चुका है। इस बारे में परिवार की परिधि से बाहर बात करने में तो संजीदगी गुम रहती ही है, परिवार के सदस्यों से कहता हूं कि ज्यादा समय सोशल मीडिया का दास बने रहना जिंदगी के लिए ठीक नहीं, तो सभी को लगता है कि कोई गलत सलाह दे डाली। युवा वर्ग रास्तों पर चलते-फिरते, लेटे हुए, सुबह जाग कर वाट्सऐप या ‘फेकबुक’ पढ़ रहा होता है। अधिकांश कार्यस्थलों पर समय निकाल कर यह ‘जरूरी काम’ करना पड़ रहा है। अब पारिवारिक या आपसी संवाद तेजी से लुप्त हो रहा है।पिछले दिनों पत्नी के साथ अपने एक घनिष्ठ मित्र से मिलने उनके शहर गया। हमारे घरों के बीच की दूरी लगभग ढाई सौ किलोमीटर है। उनसे व्यक्तिगत रूप से मिले काफी अरसा हो गया था, वे बुलाते रहते और हम वादा करते रहते। आखिर वह ‘शुभ दिन’ आया, यात्रा शुरू हुई। यात्रा के दौरान उन्होंने कई बार पूछा कि कहां पहुंचे। खैर, कई घंटे लंबा, खराब सड़कों से होते हुए सफर पूरा कर पहुंचे। हाथ मिलाया, गले मिले, अपना, बच्चों का हालचाल पूछा, बताया। चाय-नमकीन सब लगभग एक घंटे में निपट गया। उसके बाद सब सोशल मीडिया के रास्तों पर जरूरी काम निबटाने में लग गए। अपार शांति के बीच मित्र ने पूछा- ‘और सुनाएं नई ताजी’, तो मैंने कहा- ‘बाकी सब ठीक है’। दोनों महिलाएं अत्यधिक व्यस्त रहीं। रात का खाना खाने बाहर जाना था। दिमाग बार-बार यह कह रहा था कि सोशल मीडिया का कम प्रयोग करने वाले या प्रयोग न कर सकने वाले बहुत से लोग समाज में ‘आउटडेटेड’ हो चुके हैं।यह बहुत अफसोस की बात है कि हमारे धार्मिक, सामाजिक और राजनीतिक नायकों के बेहद संकीर्ण जातीय, सांप्रदायिक, धार्मिक, क्षेत्रीय, पारिवारिक, 
राजनीतिक नजरिए के कारण ही ज्यादातर भारतीय उपभोक्ताओं द्वारा फेसबुक, यूट्यूब, वाट्सऐप और इनके साथियों का सकारात्मक उपयोग नहीं किया गया। ऐसा लगने लगा है कि सोशल मीडिया, अब सोशल नहीं रहा, बल्कि ‘एंटी-सोशल’ यानी समाज-विरोधी मीडिया में तब्दील हो चुका है। बीते समय में इन माध्यमों पर लोगों द्वारा आपस में नफरत के करोड़ों जहर बुझे तीर छोड़े गए हैं।समाज-विरोधी मीडिया की बंजर धरती पर अनगिनत ट्रोल करने वाले यानी परेशान करने वाले अवांछित तत्त्व कंटीली घास की तरह उग आए हैं, जिन्होंने दूसरों को निरंतर चुभन के अलावा और कुछ नहीं दिया। व्यक्तिगत, समूह और संस्था स्तर पर समाज-विरोधी मीडिया के मंच पर स्वयंभू समझदारों की अफवाहों, फर्जी खबरों, नकली वीडियो, अपशब्द, बदतमीजियों और गुस्ताखियों की भरमार ने नैतिकता, मानवता, प्रेम, देशप्रेम, इंसानियत और आपसी विश्वास की लगातार तौहीन की है। यह बेहद अफसोसनाक रहा कि कितने ही प्रसिद्ध, सामाजिक, धार्मिक, राजनीतिक हस्तियों ने भी अपनी बदजुबानी की कड़वाहट की आहुति डाल कर समाज-विरोधी मीडिया को समाज के खिलाफ बनाया। देश में तनाव, टकराव और हिंसा की जो घटनाएं सामने आ रही हैं, उससे साफ है कि अब समाज-विरोधी मीडिया की आसक्ति को विरक्ति के रास्ते भेजने का समय आ गया है।
हर वक्त कहीं न कहीं, कोई न कोई किसी से कह रहा होता है कि इन सभी ने मिल कर हमारी जिंदगी में खलल डाला है। क्या इतनी खूबसूरत जिंदगी में यह ठहराव भी आना था कि फेसबुक के चेहरे तो हमारे मित्र हो गए, लेकिन रास्ते में पास से वे गुजरे तो देखा तक नहीं। इसका गलत प्रयोग के बारे में उपदेश बहुत दिए जाते हैं। लेकिन यह किसी नेता के भाषण की तरह होता है, जिसे सुनते हुए भी लोग मोबाइल पर वीडियो देखते या बनाते रहते हैं। समाज-विरोधी मीडिया पीड़ितों को बीमार मान कर उनका इलाज करने के लिए अनेक क्लिनिक खुल चुके हैं। मानसिक चिकित्सा के आर्थिक विशेषज्ञ मैदान में आ चुके हैं। एक बार मिलने वाले मानव जीवन में अमानवीय दुष्परिणामों से वाकिफ होने के बावजूद अधिकतर लोग प्रेरणा नहीं लेते। आम लोगों को वैसे भी एक चामत्कारिक प्रेरक व्यक्तित्व की जरूरत होती है, जो उनके जीवन में बदलाव लाने की कुव्वत रखता हो।लेकिन जब जिंदगी पर बाजारी कलाओं का तानाशाहनुमा कब्जा हो, तो दिमाग सोचना बंद कर देता है। यह आज का सच भी है कि कुछ भी बहुत ज्यादा हो जाना अच्छा नहीं माना जाता है। कुदरत का नियम है, कुल आसक्ति की चरम स्थिति के बाद विरक्ति शुरू होती है। अब वक्त आ गया है कि इस असामाजिक रास्ते को छोड़ दें, अपनी जिंदगी के बारे चिंतन करें। दूसरे जरूरी क्षेत्रों में ज्यादा मेहनत करें, ताकि सही समाज की रचना फिर अंकुर ले सके। आम आदमी के लिए मिलने-जुलने, पत्र लिखने, सद्भाव बढ़ाने, स्वस्थ रहने, ईर्ष्या, द्वेष और वैमनस्य से बचने के मार्ग प्रशस्त करने की घड़ी आ गई है। इससे जरूरी धन बचेगा, मानवीय तन का क्षय रुकेगा और मन भी पवित्र रहेगा।


तस्लीम बेनकाब


पान मसाला की बिक्री-उत्पादन प्रतिबंधित

उत्तर प्रदेश में पान मसाला की बिक्री और उत्पादन पर लगा प्रतिबंध
                                                                                  लखनऊ। उत्तर प्रदेश में पान मसाला की बिक्री पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगा दिया गया है। प्रदेश सरकार ने कहा है कि अगले आदेश तक राज्य में पान मसाला की बिक्री, उत्पादन और वितरण को बैन कर दिया गया है। इससे पहले उत्तर प्रदेश के अपर मुख्य सचिव गृह व सूचना अवनीश कुमार अवस्थी ने मंगलवार को कहा था कि कोरोना वायरस का संक्रमण लार व थूक से भी होता है। इस वजह से सरकार पान मसाला और गुटखा को पूरी तरह से प्रतिबंधित करने पर विचार कर रही है। इसके बाद से यह उम्मीद लगाई जा रही थी कि जल्द ही सरकार पान मसाला पर प्रतिबंध को लेकर ऐलान करेगी।
दूसरी तरफ उत्तर प्रदेश में बुधवार को एक और कोरोना संक्रमित मामला आने के बाद मरीजों की संख्या बढ़कर 41 हो गई है। सबसे अधिक मरीज आगरा-नोएडा (11) के हैं। इसके बाद लखनऊ के 8, गाजियाबाद के 3 और पीलीभीत के 2 मरीजों में कोरोना वायरस पॉजिटिव पाया गया है। इसी तरह शामली, लखीमपुर-खीरी, वाराणसी, मुरादाबाद, कानपुर और जौनपुर में कोरोना वायरस से संक्रमित 1-1 मरीज़ पाए गए हैं। इनमें से 11 लोग स्वस्थ हो गए हैं और उन सभी को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है।


बचाव एवं नियंत्रण पर प्रशासन संकल्पित

कोरोना वायरस से बचाव एवं इसके नियंत्रण को लेकर जिला प्रशासन कृत संकल्पित


जनपद में संचालित किए जा रहे हैं कंट्रोल रूम


 गौतम बुध नगर। जिलाधिकारी बीएन सिंह के नेतृत्व में कोरोना वायरस से बचाव एवं जनपद वासियों को सुरक्षित करने के उद्देश्य से विभिन्न कार्यवाही सुनिश्चित की जा रही है। इसी श्रृंखला में जिला प्रशासन की ओर से कोरोना वायरस की गंभीरता को लेकर जनपद में 24 घंटे कंट्रोल रूम संचालित किए जा रहे हैं, जहां पर कोई भी नागरिक कोरोना वायरस के संबंध में जानकारी उपलब्ध करा सकते हैं। जिला प्रशासन की ओर से एक कंट्रोल रूम कलेक्ट्रेट परिसर में संचालित किया जा रहा है, जबकि दूसरा कंट्रोल रूम स्वास्थ्य विभाग के माध्यम से संचालित है। अतः समस्त जनपद वासी कोरोना वायरस से बचाव एवं इसके नियंत्रण को लेकर किसी भी प्रकार की जानकारी संबंधित कंट्रोल रूम से प्राप्त कर सकते हैं एवं इस संबंध में कोई भी जानकारी कंट्रोल रूम को उपलब्ध करा सकते हैं। जिला सूचना अधिकारी गौतम बुध नगर।


कोरोना वायरस से बचाव ही सुरक्षा


एडवोकेट आफताब


कोरोना से बचाव के लिए सभी को एक दूसरे का सहयोग करने की अपील की
दिल्ली अल्पसंख्यक आयोग के सलाहकार सदस्य व ऑल इंडिया उलेमा बोर्ड के दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष एडवोकेट आफताब ने देश व विश्व मे कोरोना वायरस के फैलने से हजारों लोगों की मौत पर दुख व्यक्त किया और सभी क्षेत्रवासियों से कोरोना वायरस के बचाओ मैं सभी को एक दूसरे को जागरूक करने की अपील की! उन्होंने कहा की इस समय कोरोना पूरे विश्व पर कहर ढा रहा है जिसकी रोकथाम जरूरी है शिक्षित वर्ग को  अशिक्षित लोगो तक इसके बचाव के उपाय और रोकथाम की तरीकों की जानकारी देनी चाहिए। एडवोकेट आफताब ने बचाव के तरीके बताते हुए कहा कि हम सभी को हाथ मिलाने को छोड़कर दूर से ही अभिवादन करना चाहिए। सार्वजनिक स्थानों पर जाने से पहले मास्क का प्रयोग करना चाहिए दिन में कई बार साबुन से हाथ धोना चाहिए। साफ सफाई और देखरेख ही इसका बचाव है। जिस तरह भारत सरकार इसके बचाव के लिए युद्ध स्तर पर कार्य कर रही है। उसी तरह हमें भी इस समय सरकार का सहयोग करना चाहिए। उन्होंने कहा की शिक्षित वर्ग का फर्ज बनता है कि राष्ट्र पर आई इस आपदा में अशिक्षित लोगों तक जानकारी पहुंचा कर उसके बचाओ और तरीके बता कर सरकार द्वारा उठाए जा रहे कदमों में सहयोग करना चाहिए। इस समय पूरे विश्व को एक होकर इस महामारी का मुकाबला करना चाहिए। जोकि धीरे-धीरे सभी देशों में फैलती जा रही है जिसमें एहतियात जरूरी है।


बागपत में वायरस, संक्रमण का खतरा

सचिन कुमार


बागपत। उत्तर प्रदेश के जनपद बागपत स्थित गांव सरूरपुर कला में कपिल पुत्र देवेंद्र निवासी गढ़ी मोहल्ला कोरोना पॉजिटिव पाया गया है। कपिल मोहल्ले में बेरोकटोक 1 सप्ताह तक घूमता रहा है, सभी से मिलना जुलना भी रहा है। ऐसी स्थिति में सैकड़ों लोगों में वायरस फैलने का खतरा बढ़ गया है। प्रशासनिक अमला अभी तक शांत बैठा हुआ है। जबकि सामान्यतः वायरस का संक्रमण 500 लोगों से अधिक लोगों तक पहुंच चुका है। यदि प्रशासन ने समय रहते इस पर आवश्यक कार्रवाई नहीं की तो यह शीघ्र एक बड़ी आबादी में फैलने का काम कर लेगा और उसके पश्चात परिणाम क्या हो सकते हैं?  हो सकता है हजारों की आबादी तबाह ना हो जाए।


 


लॉक डाउन का मिलकर पालन करें

शामली / थानाभवन। उत्तर प्रदेश सरकार के कद्दावर नेता व कैबिनेट मंत्री सुरेश राणा ने लोगों से की अपील कहा कि लॉकडाउन का पालन करें। अपने अपने घरों पर रहे। कैबिनेट मंत्री सुरेश राणा ने बताया कि पूरे दिन में कम से कम 20 बार अपने हाथों को धोए। सोशल डिस्टेंस बनाकर रखें और एक से डेड मीटर की दूरी बनाकर रखें। कैबिनेट मंत्री सुरेश राणा ने बताया कि इस दुख की घड़ी में हम जिन लोगों का भी सहयोग कर सकें, जिन लोगो कि भी मदद कर सकते है। उन लोगों का सहयोग करें,मदद करे। लोगों से सोशल मीडिया के माध्यम से घरों में रहने की अपील करें।


उत्तरप्रदेश सरकार मै कैबिनेट मंत्री सुरेश राणा ने बताया कि इस महामारी से लड़ने का सबसे बेहतर उपाए ये है कि आप सब लोग मिलकर लॉकडाउन का पालन करे और आपने घरो पर रहे।


 


लॉक डाउन की महिमा ऑनलाइन निकाह

लाॅकडाउन के कारण दो बहनों का ऑनलाइन हुआ निकाह…


 बलिया। संपूर्ण भारत में कोरोना वायरस को लेकर लॉकडाउन हो जाने के कारण शादी विवाह का कार्यक्रम को स्थगित करना पड़ रहा है, लेकिन बलिया में बुधवार को दो सगी बहन की शादी होने वाली थी। बारात भी रात में आना था। लेकिन अब यह सब ना होकर ऑनलाइन दोनों बहनों का निकाह पढ़ाया गया।


मामला बलिया नगर पंचायत क्षेत्र के वार्ड नंबर 5 का है। यहां के रहने वाले अहमद कुरेशी उर्फ छोटे कुरेशी की दो बेटियों का निकाह एक वक्त बुधवार की शाम को 4:00 बजे मदरसा दारुल उलूम जकरिया के सदर मुदर्रीस व मीर शिकार टोला मस्जिद के पेश इमाम मुफ्ती मोहम्मद अहसन के द्वारा निकाह पढ़ाया गया।छोटे कुरेशी की तीसरी बेटी नगमा परवीन का निकाह नालंदा जिला के आगामा निवासी मोहम्मद मंजूर कुरैशी का पुत्र शमशेर कुरैशी से तथा उनकी चौथी बेटी का निकाह गया जिला के अबगीला जगदीशपुर निवासी कलीम कुरेशी मरहूम के पुत्र शाहनवाज अख्तर कुरैशी से राहत परवीन का निकाह पढ़ाया गया। मौका पर हाफिज नफीस साहब, वार्ड पार्षद पति मोहम्मद अफाक कई लोग मौजूद थे। निकाह की रस्म अदायगी के बाद लोगों ने एक-दूसरे को मुबारकबाद दिया।


लॉक डाउन से वायु प्रदूषण में गिरावट

लाॅकडाउन के कारण वायु प्रदूषण में आई गिरावट…


पटना। लाॅकडाउन की वजह से गाड़ियां कम चलने से राजधानी की हवा स्वच्छ हुई है। शहरवासी शुद्ध हवा में सांस ले रहे हैं। बुधवार को पटना का एयर क्वालिटी इंडेक्स 129 रहा। सेंट्रल पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड के मानक के हिसाब से यह स्तर संतोषजनक है। हालांकि, मुजफ्फरपुर का एक्यूआई स्तर 275 रहा, जाे पुअर है। शहर में सबसे अधिक प्रदूषण वाहनों से निकलने वाले धुआं से होता है।


पटना में तारामंडल, डीआरएम ऑफिस, बीआईटी मेसरा, ईको पार्क, एसके मेमोरियल हॉल में एक्यूआई स्तर मापने वाली मशीन लगी है। इन मशीनाें के अनुसार पिछले दो दिनों में एक्यूआई स्तर में काफी सुधार आया है।तारामंडल के पास एक्यूआई स्तर 22 मार्च को 212 और 23 मार्च काे 160 मापा गया। समनपुरा स्थित बीआईटी के पास 22 मार्च काे 163 और 23 मार्च को 129 रहा। गांधी मैदान स्थित एसकेएम हॉल के पास 22 मार्च को 122 और 23 मार्च को 97, दानापुर डीआरएम ऑफिस के पास 22 मार्च को 238 और 23 मार्च को 113, ईको पार्क के पास एक्यूआई स्तर 22 मार्च को 95 और 23 मार्च को करीब 100 मापा गया।


एएन कॉलेज के जैव प्रौद्याेगिकी विभाग के डाॅ. मनीष कंठ ने कहा कि लाॅकडाउन से हम कोरोना वायरस पर विजय ताे पाएंगे ही, प्रदूषण रहित वातावरण में सांस ले सकेंगे। पटना के वायु प्रदूषण में दो चीजों का मुख्य योगदान है। एक गाड़ियों से निकलने वाला धुआं और दूसरा निर्माण कार्य से निकलने वाला धूल-कण। इन दिनों दाेनाें गतिविधियां बंद हैं। इसलिए आशा है कुछ समय बाद एयर क्वालिटी और बेहतर होगी। प्रदूषण में 50 फीसदी से अधिक की कमी हो जाएगी। नवंबर, दिसंबर 2019 और जनवरी, फरवरी 2020 में पटनावासी प्रदूषण की मार झेल रहे थे। एक्यूआई स्तर खतरनाक स्तर पर पहुंच गया था।


दिल्लीः खुलेगी जरूरी सामान की दुकान

दिल्ली : उप राज्यपाल का ऐलान, 24×7 खुलेंगी जरूरी सामान की दुकान

नई दिल्ली। भारत में बढ़ते कोरोना के कहर को देखते हुए  दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल और दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल ने आज यानि गुरूवार को जिलाधिकारियों और पुलिस उपायुक्तों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बैठक की। जिसमें कई अहम फैसले लिए गए है। राज्यपाल ने कहा कि सभी आवश्यक सेवाओं की दुकानें 24 घंटे खुली रह सकती हैं ताकि लोगों की भीड़ न हो।


उपराज्यपाल ने कहा कि ऑनलाइन सेवा प्रदाताओं / ई-रिटेलर्स को आवश्यक सेवाएं और सामान वितरित करने की अनुमति है। सभी आवश्यक सेवाओं की दुकानें 24 घंटे खुली रह सकती हैं ताकि लोगों की भीड़ न हो। साथ ही उन्होंने बैठक में फैसला लिया कि कोरोना वायरस से पॉजिटिव रोगियों के उपचार में शामिल सभी स्वास्थ्य कर्मचारियों का टेस्ट किया जाएगा।


गौरतलब है कि बुधवार को लॉकडाउन के पहले दिन कई राज्य सरकारों ने कहा कि वे सफलतापूर्वक आम लोगों को खाने और जरूरत का सामान पहुंचाएंगी। हालांकि, प्रशासन के बीच नियमों को लेकर भ्रम की स्थिति रही। इसके चलते ज्यादातर अहम सेवाओं को परेशानी की स्थिति से गुजरना पड़ा। खासकर होम डिलीवरी और ई-कॉमर्स से जुड़ी सेवाओं को। जिसकों देखते हुए आज यह फैसला लिया गया है।


वायरसः समाचार-पत्र वितरण पर संकट

रायपुर। कोरोना के संक्रमण का खतरा अब अखबार के वितरण पर भी मंडरा रहा है। अखबार बांटने वाले बड़े एजेंटों ने एक इमरजेंसी बैठक लेकर अखबार नहीं बांटने का फैसला लिया। बैठक में हॉकरों की समस्या सामने आई थी। सारे हॉकर निम्न आय वर्ग के हैं और उनके पास मास्क व अन्य सुविधाएं उपलब्ध नहीं है। ऐसी स्थिति में उनसे अखबार बटवाना संक्रमण को बढ़ाने को दावत देना है इसलिए यह फैसला लिया गया है। इसके अलावा अखबार के करीब 25% पाठकों ने खुद होकर भी अखबार नहीं मंगाने का फैसला ले लिया है। पाठकों के मन में भ्रम है कि अखबार कई हाथों से होकर गुजर कर आता है ऐसे में कोरोना वायरस के संक्रमण का खतरा ज्यादा होता है। हालांकि यह भ्रम है लेकिन अखबारों के पाठकों की रुचि भी अखबार पढ़ने में नहीं है इसलिए प्रसार संख्या घटने के कारण भी बड़े एजेंटों ने यह कठिन व कड़ा फैसला लिया है। इस फैसले के अमल में आते ही शहर वालों को अखबार पढ़ने से वंचित होना पड़ेगा। वैसे कुछ बड़े अखबारों की ओर से खबर आ रही है कि वे खुद ही इसकी वितरण प्रणाली तैयार करने की कोशिश करेंगे और अखबार एजेंट के जरिए नहीं बल्कि अपने कर्मचारियों के जरिए बंटवाने की कोशिश करेंगे, हालांकि इसकी पुष्टि नहीं हुई है।


दिल्ली के 900 लोगों होगें क्वॉरेंटाइन

नई दिल्ली। देश में कोरोना वायरस का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है। कोरोना वायरस के कारण देश में लॉकडाउन का आज दूसरा दिन है। इस बीच कोरोना वायरस से पीड़ित मरीजों की संख्या बढ़कर 649 पर पहुंच गई है। दिल्ली में सऊदी से लौटी एक महिला ने मौजपुर के मोहल्ला क्लीनिक में इलाज कराया था। इस महिला से मोहल्ला क्लीनिक के डॉक्टर को कोरोना हुआ और फिर डाक्टर की पत्नी और बेटी को। अब दिल्ली के मौजपुर इलाके के 900 लोगों को क्वारेंटाइन किया जाएगा। दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सतेंद्र जैन ने बताया कि शमा नाम की महिला, जो सऊदी अरब से आई थी, वह 12 मार्च को मौजपुर मोहल्ला क्लिनिक में डॉक्टर गोपाल झा से मिली। इस महिला के चलते से डॉ. गोपाल झा, उनकी पत्नी और उनकी बेटी समेत कुल 8 लोग और संक्रमित हुए। डॉक्टर गोपाल अभी ठीक हैं। करीब 900 लोगों को क्वारेंटाइन किया जाएगा।


विदेश से आए 200 पहुंच से दूर

रायपुर। प्रदेश में अब कोरोना की वजह से हालात बिगड़ते जा रहे है। अब तक 6 लोग इस वायरस से पीड़ित पाए गए हैं, जिनका उपचार एम्स में हो रहा है। ऐसी परिस्थिति में अब लोगों के लिए सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना बेहद जरूरी हो गया है। ज्यादातर संक्रमण का खतरा उन लोगों से है जो विदेश यात्राओं से लौटे हैं। बता दें कि प्रदेश में 1800 से ज्यादा लोग फरवरी माह से अब तक विदेश यात्रा से लौटे हैं, जिसमें 1580 से अधिक लोगों की पहचान होने के बाद उन्हें क्वारेंटाइन किया गया। वर्तमान में 61 लोग निमोरा, झांझ व निजी होटल में बने क्वारेंटाइन में रखे गए हैं, लेकिन 200 से अधिक लोगों को ट्रेस करना अभी भी स्वास्थ्य विभाग के लिए बड़ी चुनौती है। स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों की बात करे तो बुधवार को 49 सैम्पलों की जांच की गई है। इसमें दो कोरोना पॉजिटिव मिले हैं। इसके अलावा 33 सैम्पलों की जांच को एम्स के लैब भेजा गया है, जिसकी रिपोर्ट आना अभी शेष है। छत्तीसगढ़ में अब तक कुल 232 सैम्पलों की जांच की गई है।


सरकार को कांग्रेस का साथ मिला

सुझाव देकर बोलीं- संकट के इस घड़ी में कांग्रेस सरकार के साथ मगर
नई दिल्ली। देशभर में कोरोना के बढ़ते प्रकोप के बीच कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिख 21 दिन के लॉकडाउन को स्वागत योग्य कदम करार दिया है। साथ ही सोनिया गांधी ने कोरोना वायरस के खिलाफ जंग में अर्थव्यवस्था और स्वास्थ्य को लेकर कुछ सुझाव भी दिए हैं। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने 21 दिनों के बंद का समर्थन करते हुए गुरुवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से आग्रह किया कि ‘न्यूनतम आय गारंटी योजना’ यानी (न्याय) लागू करके आजीविका के संकट का सामना कर रहे मजदूरों एवं गरीबों के खातों में आर्थिक मदद भेजी जाए और किसानों एवं छोटे कारोबारियों को राहत देने के लिए कदम उठाए जाएं। प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर सोनिया ने यह भी कहा कि उनकी पार्टी कोरोना वायरस के कारण पैदा हुए इस संकट से निपटने के लिए पूरी तरह से सरकार के साथ खड़ी है।यह भी पढ़ें- कोरोना पर राहत की खबर: चीन पर सटीक भविष्यवाणी करने वाले नोबेल पुरस्कार विजेता बोले- जल्द खत्म होगी महामारी
उन्होंने कहा, ‘कोरोना वायरस की महामारी ने लाखों लोगों का जीवन खतरे में डाल दिया है तथा पूरे देश में खासकर समाज के सबसे कमजोर वर्ग के लोगों की आजीविका एवं रोजमर्रा के जीवन पर प्रतिकूल प्रभाव डाला है। कोरोना महामारी को रोकने व हराने के संघर्ष में पूरा देश संगठित होकर एक साथ खड़ा है।’कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया ने कहा, ‘कोराना वायरस से लड़ने के लिए आपकी सरकार द्वारा घोषित ’21 दिन के देशव्यापी लॉकडाउन’ का हम समर्थन करते हैं। मैं विश्वास दिलाती हूं कि इस महामारी को रोकने के लिए उठाए गए हर कदम में हम सरकार को अपना पूरा सहयोग देंगे।’ कांग्रेस अध्यक्ष ने आग्रह किया कि कोरोना वायरस से लड़ रहे चिकित्साकर्मियों के लिए एन-95 मास्क एवं दूसरे सभी स्वास्थ्य सुरक्षा उपकरण उपलब्ध कराए जाएं। उन्होंने कहा कि मजदूरों और गरीबों को राहत देने के लिए न्याय योजना लागू करके उनके खातों में सीधी आर्थिक मदद भेजी जाए।


कोरोना संकट और केंद्र का ऐलान

नई दिल्ली। कोरोना संकट के बीच केंद्र सरकार के द्वारा आम आदमियों,मजदूरों,गरीबों,पेंशनरों ,महिलाओं,बुजुर्गों,स्वास्थ्य कर्मचारियों सहित विभिन्न वर्गों के लिए राहत पैकेज का ऐलान कर दिए है। देश में अभी कोरोना संकट के चलते आम नागरिकों को किसी भी प्रकार से जींवन चर्या में परेशानी न हो इस लिए केंद्र सरकार ने अनेकों निर्णय लिए है। जिसे आप क्रम से नीचे देख सकते है।


उज्ज्वला योजना वाली महिलाओं को 3 महीने तक मुफ्त सिलेंडर। 
स्वयं सहायता समूहों को 10 लाख के बदले 20 लाख रूपये। 
दिहाड़ी मजदूरों गरीबों के लिए 1. 70 लाख करोड़ के पैकेज का ऐलान। 
स्वास्थ्य कर्मचारियों के लिए 50 लाख का बीमा। 
प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना से 80 करोड़ लोगो को अन्न मिलेगा। 
गरीबों को अगले तीन महीनो तक 5 किलो गेहू या चावल मुफ्त। 
गरीबों को एक किलो दाल प्रति परिवार 3 महीनो तक। 
 अभी मिल रहे मुफ्त अनाज के अलावा 5 किलो गेहूं और एक किलो दाल 
8. 70 करोड़ किसानो के खाते में अप्रैल के पहले सप्ताह में 2000 रु. जमा। 
मनरेगा मजदूरों को 182 रु.के बदले 202 रु. 
बुजुर्ग,विधवा,दिब्यांगों को 1000 रु. अतिरिक्त पेंशन  तक। 
जनधन खाता वाली महिलाओं को 500 रु. तीन माह तक।


सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

सावधान रहें, सतर्कता बरतें।


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

यूनिवर्सल एक्सप्रेस    (हिंदी-दैनिक)


मार्च 27, 2020, RNI.No.UPHIN/2014/57254


1. अंक-228 (साल-01)
2. शुक्रवार, मार्च 27, 2020
3. शक-1942,चैैत्र-शुक्ल पक्ष, तिथि- तीज, संवत 2077


4. सूर्योदय प्रातः 06:20,सूर्यास्त 06:38
5. न्‍यूनतम तापमान 14+ डी.सै.,अधिकतम-27+ डी.सै., बरसात की संभावना बनी रहेगी।


6.समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा।
7. स्वामी, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित।


8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102


9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.,201102


https://universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
cont.:-935030275
 (सर्वाधिकार सुरक्षित)


 


सैन्य गठजोड़ ने क्षेत्र पर सवालों को जन्म दिया

बीजिंग/ वाशिंगटन डीसी। चीन के खिलाफ अमेरिका, ब्रिटेन और ऑस्ट्रेलिया के नए सैन्य गठजोड़ ने प्रशांत महासागर क्षेत्र को लेकर ने सवालों को जन्म ...