शनिवार, 15 जुलाई 2023

मोदी लाएंगे गहलोत की फ्री-स्कीम्स की काट

मोदी लाएंगे गहलोत की फ्री-स्कीम्स की काट 

नरेश राघानी 

जयपुर। राजस्थान में दिसंबर में होने वाले विधानसभा चुनाव में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के चेहरे को ही आगे करके भाजपा आगे बढ़ रही है। पिछले नौ माह में राजस्थान में सात सभाएं कर चुके मोदी की आठवीं बड़ी सभा 28 जुलाई को नागौर के खरनाल में होगी। पीएमओ ने इस कार्यक्रम को फाइनल कर दिया है। पहली बार खरनाल आ रहे मोदी वीर तेजाजी के मंदिर में पूजा करके जाट समाज को बड़ा मैसेज देंगे। तेजाजी मंदिर में दर्शन के बाद वे देशभर के 9 करोड़ किसानों के खातों में एक साथ 18 हजार करोड़ रुपए की सम्मान निधि ट्रांसफर करेंगे।

खरनाल में होने वाली सभा में भाजपा की ओर से करीब 3 लाख लोगों को जुटाने की तैयारी है। केंद्रीय कृषि राज्य मंत्री कैलाश चौधरी ने भास्कर को बताया कि यह कार्यक्रम कृषि मंत्रालय और फर्टिलाइजर मंत्रालय की ओर से आयोजित किया जाएगा। किसानों के खातों में सम्मान निधि ट्रांसफर करने के अलावा फर्टिलाइजर मंत्रालय की ‘पीएम प्रणाम’ स्कीम में किसानों के लिए किए गए नए प्रावधानों की भी प्रधानमंत्री घोषणा करेंगे। आर्गेनिक खेती को बढ़ावा देने वाले किसानों के लिए नई घोषणा संभव है। खरनाल में होने वाली मोदी की सभा में नागौर के आसपास के जिलों अजमेर, जयपुर, सीकर, चुरू, बीकानेर, जोधपुर और पाली से भी लोग जुटेंगे। नागौर सहित अन्य जिलों की करीब 25 से 30 विधानसभा सीटों पर इसका प्रभाव पड़ेगा।

गहलोत की स्कीमों के माहौल से भाजपा को टेंशन, यह उसी की काट

कांग्रेस सरकार की डायरेक्ट बेनिफिट स्कीम्स के जरिए सीएम अशोक गहलोत लगातार सार्वजनिक कार्यक्रमों में लाभार्थियों के खातों में सीधे पैसा भेजकर चुनाव से पहले माहौल बना रहे हैं। पिछले दिनों उन्होंने गैस सिलेंडर और सामाजिक पेंशन की राशि लाभार्थियों के खातों में सीधे ट्रांसफर की है। इन कार्यक्रमों के जरिए वे यह बताने की कोशिश कर रहे हैं कि उनकी सरकार लोगों के जीवन स्तर को सुधारने के लिए किस तरह से काम कर रही है।

अब मोदी द्वारा किसान सम्मान निधि का पैसा सार्वजनिक कार्यक्रम में राजस्थान आकर जारी करने की कवायद गहलोत की स्कीम्स के माहौल को कम करने की कोशिश माना जा रहा है। पिछले दिनों गहलोत सरकार ने जाटों को साधने के लिए वीर तेजाजी के नाम से नए बोर्ड का भी गठन किया है।

भाजपा को टेंशन है कि कहीं जाटों का झुकाव कांग्रेस के पक्ष में न हो जाए, इसी की काट के लिए वीर तेजाजी के जन्मस्थान को मोदी की सभा और किसानों से जुड़े कार्यक्रम के लिए सिलेक्ट किया गया है।

नागौर-दौसा के लिए भाजपा की अलग रणनीति

नागौर और दौसा संसदीय सीट को राजस्थान में भाजपा सबसे कमजोर सीट मानकर अलग से प्लानिंग कर रही है। इन सीटों पर खास प्लानिंग के लिए केंद्रीय मंत्री संजीव बालयान को छह माह पहले से जिम्मेदारी दी हुई है। गुर्जर-मीणा बहुल दौसा में मोदी पहले ही एक बड़ी सभा कर चुके हैं। साथ ही पूर्वी राजस्थान के समीकरण साधने के लिए राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्‌डा और केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह समेत भाजपा के बड़े नेताओं के लगातार दौरे हो रहे हैं। अब जाट बहुल नागौर को जीतने के लिए भाजपा ने समाज के आराध्य लोक देवता वीर तेजाजी की जन्मस्थली खरनाल को मोदी की सभा के लिए चुना है। मोदी खरनाल में पहली बार सभा करने आ रहे हैं। पिछली बार नागौर सीट भाजपा ने हनुमान बेनीवाल की राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी को गठबंधन में खाली छोड़ी थी। रालोपा से गठबंधन टूटने के बाद भाजपा नागौर सीट को अपने दम पर जीतने की रणनीति बना रही है।

2013 में भाजपा ने नागौर की 10 विधानसभा सीटों में से नौ सीटें जीती थीं जबकि 2018 के चुनाव में उसे सिर्फ दो ही सीटों पर संतोष करना पड़ा। इस लिहाज से भाजपा के लिए नागौर विधानसभा और लोकसभा दोनों चुनावों के लिए चुनौतीपूर्ण बना हुआ है।

जातीय समीकरण साध रहे मोदी

चुनावी रण को जीतने के लिए जातियों को साधने में जुटे मोदी अब किसानों खासकर जाट समाज को साधने के लिए राजस्थान आ रहे हैं। अब तक राजस्थान में हुई सभाओं के लिए चिन्हित स्थानों पर गौर करें ताे मोदी ने गुर्जर-मीणा-आदिवासी और एससी बेल्ट को फोकस किया है। गुर्जरों को साधने के लिए मोदी की भीलवाड़ा के आसींद में सभा हुई, उसके बाद गुर्जर-मीणा बहुल दौसा, आदिवासी बहुलता वाले बांसवाड़ा, अजमेर और सिरोही में सभाएं कर चुके हैं। जाट समाज को साधने के लिए अब मोदी का नागौर दौरा तय किया गया है। 8 जुलाई को एससी के लिए रिजर्व बीकानेर लोकसभा सीट पर हुई मोदी की सभा के बाद इस माह राजस्थान में यह उनका दूसरा दौरा होगा।

श्वास व दमे की बीमारी के साथ पैदा होते बच्चे 

श्वास व दमे की बीमारी के साथ पैदा होते बच्चे 

नरेश राघानी 

बीकानेर। शहर में बड़े पैमाने पर पनप चुके वस्त्रों की रंगाई, छपाई और धूलाई का अवैध कारोबार आमजन के लिये विकराल समस्या बन गया है । रिहायशी इलाकों में पनपे इस कारोबार के कारण प्रदूषण का खतरा भी चरम पहुंच गया है। चौंकाने वाली बात तो यह है कि रसायनिक रंगों से फैल रहे प्रदूषण के कारण प्रभावित इलाकों के बच्चे श्वास और दमें की सौगात लेकर पैदा हो रहे है। मगर बीकानेर जिला प्रशासन, राज्य प्रदूषण नियंत्रण मंडल और नगर निगम प्रशासन यहां वस्त्र रंगाई कारखानों से हो रहे प्रदूषण की रोकथाम में नाकाम बने हुए है। हैरानी की बात तो यह है कि बीकानेर के सिस्टम के जिम्मेदार अफसरों को इसकी जानकारी तक नहीं है बीकानेर शहर में वस्त्रों की रंगाई,छपाई और धूलाई के अवैध कारखानें कहां-कहां चल रहे है। इस मामले की पड़ताल में सामने आया है कि शहर में लालगुफा क्षेत्र, जैन पब्लिक स्कूल के पीछे, गोपेश्वर बस्ती समेत आस पास के रिहायशी इलाकों में सैंकड़ो की तादाद में वस्त्र रंगाई के अवैध कारखाने चल रहे है। जहां घातक कैमिकल रंगों से कपड़ो की रंगाई के बाद हजारों गैलन प्रदूषित पानी नाले-नालियों और खुले में बहा दिया जाता है। इतना ही इनमें से एक भी कारखाना संचालक ने राज्य प्रदूषण नियंत्रण मंडल से एनओसी भी नहीं ले रखी है। इन कारखानों के आस पास का माहौल इस कदर प्रदूषित रहता है कि सांस लेना भी दूभर हो जाता है। प्रदूषित माहौल में रहने के कारण इन रिहायशी इलाकों के लोग कई तरह की बीमारियों से ग्रस्त होने लगे है।

-चल रहे है सौ से ज्यादा कारखानें

जानकारी के अनुसार पूरी तरह अवैध चल रहे इन कारखानों में वस्त्र धुपाई, रंगाई के बाद दूषित पानी नाले नालियों और कई जगहों पर खुले में बहा देते है। इन कारखानों के कैमिकल युक्त पानी से जल व जमीन दोनों प्रदूषित हो रहे है। बताया जाता है कि पांच साल पहले तक शहर में गिनती के ऐसे कारखाने थे बीते तीन सालों के अंतराल में अवैध रंगाई,छपाई और धूलाई के इन कारखानों की तादाद सौ के पार हो गई है । इनमें महिलाओं के साथ नाबालिग उम्र के बच्चे भी जोखिम का काम कर रहे है। लेकिन बालश्रम निरोधक की टीमें आज तक इन कारखानों मेें औच्चक निरीक्षण के लिये नहीं पहुंची। इन कारखानों से पीडि़त लोग कई बार जिला प्रशासन को शिकायतें दे चुके है लेकिन जिम्मेदार अफसरों ने शिकायतों का समाधान करना तो दूर इन कारनाखों की तरफ झाँक कर भी नहीं देखा।

-सालाना ढाई सौ करोड़ का कारोबार

वस्त्रों की रंगाई,छपाई और धूलाई से जुड़े इन कारखानों की कुण्डली खंगालने पर पता चला कि यह कारोबार को कोई छोटा मोटा नहीं बल्कि सालाना ढाई सौ करोड़ से ज्यादा कारोबार है। इन अवैध कारखानों में रंगे हुए वस्त्र पश्चिम बंगाल,गुजरात,मध्य प्रदेश से लेकर महाराष्ट्र तक सप्लाई होते है।

समुद्री जल से गैस, एक्वास्टिल से करार

समुद्री जल से गैस, एक्वास्टिल से करार

अकाशुं उपाध्याय 

नई दिल्ली। हरित हाइड्रोजन फर्म ओहमियम इंटरनेशनल ने खारेपन से मुक्त समुद्री जल से गैस का उत्पादन करने के लिए एक्वास्टिल के साथ रणनीतिक करार किया है। कंपनी ने एक बयान में यह जानकारी देते हुए कहा कि यह करार ओहमियम को हरित हाइड्रोजन उत्पादन में अलवणीकृत समुद्री जल का उपयोग करने में सक्षम बनाएगा। ओहमियम इंटरनेशनल प्रोटॉन एक्सचेंज मेम्ब्रेन (पीईएम) इलेक्ट्रोलाइजर का विनिर्माण करती है।

बयान के मुताबिक, ओहमियम के मॉड्यूलर हरित हाइड्रोजन इलेक्ट्रोलाइजर के साथ एक्वास्टिल की खारापन दूर करने वाली क्षमताओं को जोड़कर यह सहयोग स्वच्छ ऊर्जा उत्पादन का अधिक कुशल, टिकाऊ और किफायती तरीका प्रदान करेगा। इससे तटीय क्षेत्रों में सक्रिय कारोबारों के लिए कार्बन उत्सर्जन कम करने के नए अवसर पैदा होंगे।

कंपनी ने कहा कि ओहमियम और एक्वास्टिल ने इन प्रौद्योगिकियों के अधिकतम एकीकरण का आकलन करना शुरू कर दिया है। उनकी मंशा इन परिष्कृत मॉड्यूल को जल्द से जल्द व्यावसायिक रूप से उपलब्ध कराने की है।

जहांगीरपुर में 3 बच्चों की डूबने से मौत हुई

जहांगीरपुर में 3 बच्चों की डूबने से मौत हुई

इकबाल अंसारी   

उत्तर दक्षिणी दिल्ली। दिल्ली के जहांगीरपुर में शुक्रवार को तीन बच्चों की डूबने से मौत हो गई है। तीनों एच ब्लॉक के पास नहाने गए थे। बताया जा रहा है कि घटनास्थल पर मेट्रो का काम चल रहा था, बारिश के कारण वहां झील बन गई थी। इसी में यह सभी नहाने गए थे।

पुलिस ने बताया कि तीनों दोपहर में नहाने गए थे। हमारे पास तीन बजे करीब इसकी सूचना पहुंची। मृत बच्चों की पहचान आशीष, निखिल और पीयूष के रूप में हुई है। फिलहाल मामले की जांच की जा रही कि आखिर ये यहां कैसे पहुंचे और इनके साथ ये हादसा कैसे हुआ।

दूसरी तरफ बीते चार दिन से यमुना के जलस्तर में रिकॉर्डतोड़ बढ़ोतरी ने दिल्लीवालों की मुश्किलों को बढ़ा दिया है। भले ही जलस्तर अब कम हो रहा है। लेकिन संकट अभी भी बरकरार है। भारी बारिश के बाद दिल्ली में यमुना खतरे के निशान से ऊपर बह रही है। नदी का उफान बरकरार है। यमुना का जलस्तर बढ़ने से कई इलाकों में हालात बिगड़ गए हैं। निचले इलाकों के लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया जा रहा है।

दिल्ली के उपराज्यपाल ने किया यमुना का दौरा

दिल्ली के उपराज्यपाल वीके सक्सेना ने आईटीओ सहित विभिन्न जगहों पर यमुना का दौरा किया। इस दौरान उपराज्यपाल ने बताया कि दिल्ली में बाढ़ के हालात से निपटने के लिए सेना, एनडीआरएफ, दिल्ली जल बोर्ड, सिंचाई एवं बाढ़ विभाग सहित दिल्ली सरकार के अन्य विभाग मिलकर युद्ध स्तर पर काम कर रहे हैं। आने वाले चार से पांच घंटे में इसका असर भी दिखने लगेगा।

सद्दाम में चौंकाने वाले खुलासे किए: एटीएस

सद्दाम में चौंकाने वाले खुलासे किए: एटीएस

हरिओम उपाध्याय   

लखनऊ। यूपी एंटी टास्क फोर्स की रिमांड पर गिरफ्तार सद्दाम ने चौंकने वाले खुलासे किए हैं। एटीएस को गोंडा करनपुर रेशम फार्म निवासी सद्दाम शेख अब अचानक खुद को हिंदू बताने लगा है। उसका कहना कि उसका असली नाम रंजीत सिंह सिंह है। उसके पिता भगवान सिंह गोंडा के तरबगंज के बसेड़ी निवासी हैं। उसने 1999 में इसके साथ पढ़ने वाले आसिफ के पिता के माध्यम से मुस्लिम धर्म अपनाया। जिसके बाद आतंकी दुनिया में शामिल हुआ।

फर्जी आईडी बनाकर आतंकियों से की मिलने की कोशिश

सद्दाम ने आंतिकयों के मिलने के लिए अपनी पहचान छिपाते हुए एक महिला बनकर Syeda Mariyam Syeda Mahira नाम से भी फेसबुक आईडी बनाकर जेहादी सामग्री पोस्ट करता था। जिनके माध्यम से आतंकियों के संपर्क में आने का प्रयास करता रहा था।

IMO, FB, Youtube के माध्यम से रेडिक्लाइज्ड हुआ। जिसके चलते IMO ID हिजबुल मुजाहिदीन सद्दाम रखी। जिस पर सिराजुद्दीन हक्कानी और बाबरी मस्जिद तोड़ने के वीडियो भी पोस्ट किए। ओसामा बिन लादेन के फोटो, आतंकी ट्रेनिंग वीडियो डाउनलोड कर पोस्ट किये। साथ ही लोन वुल्फ अटैक में करने की मंशा थी।

पाकिस्तान से आते थे रिजवान के पास मैसेज

एटीएस को रिमांड पर हिजबुल मुजाहिदीन और अंसार गजवातुल हिन्द से जुड़े आतंकी रिजवान ने बताया कि उसे पाकिस्तान व आजाद कश्मीर-POK से लोग कॉल करते थे। आतंकियों के वीडियो भेजते थे। जिनसे प्रभावित होकर अपने कुछ फोटो और वीडियो उन्हें भेजने लगा। जिन्हें सीमा पार बैठे दोस्त उन्हें एडिट करके मुझे और मुजाहिदों के फोटो एक साथ लगाकर वापस भेज देते थे। जिन्हें अपनी प्रोफाइल पर लगाने के साथ सोशल मीडिया पर शेयर भी करता था।

कश्मीर को पाकिस्तान में विलय कराना है सपना रिजवान ने बताया कि वह कश्मीर को भारत से आजाद कर उसे पाकिस्तान में विलय कराने के लिए पाकिस्तान आतंकी हैंडलरों के संपर्क था। इसके चलते उनके आदेश के चलते आतंकी कार्यवाही को अंजाम देने की तैयारी कर रहा था। इसके लिए हथियार ट्रेनिंग के लिए आतंकियों से अनुरोध किया था।

आपदा प्रबंधन को प्रभावी बनाने का निर्देश दिया

आपदा प्रबंधन को प्रभावी बनाने का निर्देश दिया   

श्रीराम मौर्य  

देहरादून। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने  मन्त्रिमण्डल के सभी सदस्यों को अपने-अपने प्रभार वाले जिलों में रहकर आपदा एवं राहत कार्यों को और अधिक प्रभावी बनाने के निर्देश दिए हैं। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि राज्य में निरन्तर हो रही भारी बारिश के चलते जगह-जगह आपदा की स्थिति उत्पन्न हुई है और शासन व प्रशासन के  अधिकारी/कर्मचारी राहत व बचाव कार्यों में जुटे हुए हैं।  मुख्यमंत्री ने  राहत एवं बचाव कार्यों को और अधिक प्रभावी बनाने के उद्देश्य से सभी मंत्रियों को अपने-अपने जनपदों में प्रवास कर राहत एवं बचाव कार्यों को अधिक प्रभावी बनाने की अपेक्षा की है।

10वीं,12वीं बोर्ड परीक्षा की तारीखों की घोषणा

10वीं,12वीं बोर्ड परीक्षा की तारीखों की घोषणा

अकाशुं उपाध्याय   

नई दिल्ली। केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) ने एकेडमिक सेशन 2023-24 के लिए 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षा की तारीखों की घोषणा कर दी है। सीबीएसई बोर्ड ने परीक्षा 2024 का पूरा शेड्यूल जारी कर दिया है। इसके अनुसार, हाई स्कूल और इंटरमीडिएट की परीक्षा 15 फरवरी से 10 अप्रैल 2024 के बीच आयोजित की जाएंगी। इसकी जानकारी एग्जाम कंट्रोलर संयम भारद्वाज ने नोटिस जारी करते दी।

नोटिस के मुताबिक, "सीबीएसई 15 फरवरी 2024 से कक्षा 10 और 12 के लिए एकेडमिक सेशन 2023-24 के लिए बोर्ड परीक्षाएं आयोजित करेगा। ये परीक्षाएं लगभग 55 दिनों की अवधि के लिए आयोजित की जाएंगी और 10 अप्रैल 2024 तक समाप्त होने की उम्मीद है।" नोटिस में आगे कहा, "एग्जाम आयोजित करने वाले सभी संगठनों से अनुरोध है कि वे बोर्ड परीक्षाओं के उपरोक्त कार्यक्रम को ध्यान में रखते परीक्षाओं की तारीखें निर्धारित करें।

एक महीने तक विकास पर्व मनाएगीं सरकार

एक महीने तक विकास पर्व मनाएगीं सरकार   

ओमप्रकाश चौबे   

भोपाल। मध्य प्रदेश की शिवराज सरकार विकास पर्व मनाएगी। प्रदेश के सभी जिलों में 16 जुलाई से 14 अगस्त तक विकास पर्व मनाया जाएगा।

इस दौरान मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान प्रदेशभर के दौरे पर रहेंगे। इस विकास पर्व का शुभारंभ बड़वानी जिले से होगा। विकास पर्व में 2 लाख करोड़ से अधिक के विकास कार्यों का लोकार्पण और भूमि पूजन किया जाएगा। इस दौरान जनसेवा यात्राओं, आम सभाओं और स्थानीय स्तर पर जनता के साथ संवाद के कार्यक्रम आयोजित किये जाएंगे।

इन प्रमुख कार्यों को होगा लोकार्पण-भूमि पूजन

बीना रिफायनरी का विस्तार और केन बेतवा लिंक योजना के भूमिपूजन शिलान्यास

7245 करोड़ की 15 सिंचाई परियोजनाओं का लोकार्पण

36348 करोड़ की 13 सिंचाई परियोजनाओं का भूमि पूजन

83 सीएम राइज स्कूलों का शुभारंभ

नव स्वीकृत मेडिकल कॉलेजों का भूमिभूजन

राष्ट्रीय एवं राज्य राजमार्ग एवं सड़क निर्माण के 21900 करोड रुपये से अधिक की लागत से 1207 कार्यों का भूमि पूजन

अमृत 2.0 अंतर्गत शहरी पेयजल परियोजनाओं 3000 करोड़ रुपये की राशि के कार्य

प्रधानमंत्री आवास योजना अंतर्गत लगभग 400000 हितग्राहियों का गृह प्रवेश

10 नवीन महाविद्यालयों का भूमि पूजन

जल जीवन मिशन अंतर्गत 28471 करोड़ की राशि की 15450 समूह पेयजल परियोजनाओं का भूमि पूजन किया जाएगा।

वहीं गरीब कल्याण अंतर्गत प्रधानमंत्री आवास योजना, मुख्यमंत्री भू अधिकार योजना, दीनदयाल रसोई योजना, मुख्यमंत्री तीर्थ दर्शन योजना, जल जीवन मिशन, स्वामित्व योजना संबल योजना के विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किये जाएंगे। किसान कल्याण अंतर्गत प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि, मुख्यमंत्री किसान कल्याण योजना, मुख्यमंत्री कृषक ब्याज माफी योजना के कार्यक्रम होंगे। इसके अलावा महिला सशक्तिकरण, युवा कल्याण रोजगार एवं स्वरोजगार कमजोर वर्ग कल्याण शिक्षा स्वास्थ्य और सुशासन के अंतर्गत विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन किया जाएगा।

1700 संविदा कर्मचारियों का सामूहिक इस्तीफा  

1700 संविदा कर्मचारियों का सामूहिक इस्तीफा   

दुष्यंत टीकम  

कांकेर। अपनी मांगों को लेकर प्रदर्शन कर रहे संविदा कर्मचारियों पर सरकार ने एस्मा लगा दिया है और काम पर लौटने का अल्टीमेटम दिया हे। लेकिन इस बीच खबर आ रही हे कि प्रदर्शन कर रहे 1700 संविदा कर्मचारियों ने अपना इस्तीफा सौंप दिया है। बताया जा रहा है कि सभी कर्मचारियों ने सरकार की ओर से एस्मा लगाए जाने के विरोध में इस्तीफा दिया हैं। 

बता दें प्रदेशभर के संविदा कर्मचारी नियमि​तीकरण की मांग को लेकर प्रदर्शन कर रहे हैं। हाल में सरकार ने प्रदर्शकारियों प्रदर्शन-हड़ताल में शामिल स्वास्थ्य विभाग के संविदा नर्स, स्वास्थ्य कर्मी, एंबुलेंस सेवा के कर्मचारी को काम पर लौटने का आदेश जारी करते हुए उन पर एस्मा लागू कर दिया था। सरकार के इस कदम से प्रदर्शनकारी कर्मचारियों में हड़कंप मचा हुआ है। रिपोर्ट्स के मुताबिक़ इस प्रदेशभर में हड़ताली संविदा कर्मियों में सबसे ज्यादा संख्या स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारियों का ही है।

क्या है एस्मा?

आवश्‍यक सेवा अनुरक्षण कानून (एस्‍मा) हड़ताल को रोकने के लिये लगाया जाता है। विदित हो कि एस्‍मा लागू करने से पहले इससे प्रभावित होने वाले कर्मचारियों को किसी समाचार पत्र या अन्‍य दूसरे माध्‍यम से सूचित किया जाता है। एस्‍मा अधिकतम छह महीने के लिये लगाया जा सकता है और इसके लागू होने के बाद अगर कोई कर्मचारी हड़ताल पर जाता है तो वह अवैध‍ और दण्‍डनीय है।

दिशा ने इंस्टाग्राम पर स्टनिंग तस्वीरें शेयर की

दिशा ने इंस्टाग्राम पर स्टनिंग तस्वीरें शेयर की

कविता गर्ग   

मुंबई। दिशा पाटनी फिल्मों से अधिक सोशल मीडिया पर लोकप्रिय हैं, आए दिन वे अपने ग्लैमरस अवतार और टोन्ड बॉडी से फैंस के होश उड़ाती रहती हैं। हाल ही में एक्ट्रेस ने इंस्टाग्राम पर स्टनिंग तस्वीरें शेयर की हैं, जो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रही हैं। दिशा ने ब्लैक कलर का रिवीलिंग आउटफिट पहना है,

ग्लोइंग मेकअप के साथ हेयर लूज छोड़े हैं और बेड पर लेटकर एक से बढ़कर एक सेक्सी पोज दे रही हैं। एक्ट्रेस की हॉटनेस और टोन्ड बॉडी ने यूजर्स को मदहोश कर दिया है, वे कमेंट बॉक्स पर फायर इमोजी व रेड हार्ट इमोजी की बारिश कर रहे हैं।

लेटेस्ट ब्रेकिंग न्यूज, वायरल ट्रेंड और सोशल मीडिया की दुनिया से जुड़ी सभी खबरें. आपको ट्विटर, इंस्टाग्राम, इंटरनेट और यूट्यूब पर वायरल होने वाले हर कंटेंट की सीधी जानकारी उपलब्ध करायी जाएगी। ऊपर दिखाया गया पोस्ट अनएडिटेड कंटेंट है, जिसे सीधे सोशल मीडिया यूजर्स के अकाउंट से लिया गया है। Cgtop36 स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है। सोशल मीडिया पोस्ट Cgtop36 के विचारों और भावनाओं का प्रतिनिधित्व नहीं करता है, हम इस पोस्ट में मौजूद किसी भी कंटेंट के लिए कोई जिम्मेदारी या दायित्व स्वीकार नहीं करते हैं।

पश्चिम बंगाल हिंसा, 1और घायल की जान गई

पश्चिम बंगाल हिंसा, 1और घायल की जान गई   

मीनाक्षी लोहड़े  

कोलकाता। पश्चिम बंगाल के दक्षिण 24 परगना जिले के भांगड़ इलाके में आठ जुलाई को पंचायत चुनाव से एक दिन पहले एक राजनीतिक संघर्ष में घायल हुए 61 वर्षीय तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के कार्यकर्ता की शनिवार को मौत हो गई। एक अधिकारी ने इस बात की जानकारी दी। टीएमसी ने हत्या के लिए इंडियन सेक्युलर फ्रंट (आईएसएफ) पर आरोप लगाया, लेकिन विपक्षी दल ने आरोप को खारिज कर दिया है।

पुलिस अधिकारी ने कहा कि सात जुलाई की रात भांगड़ में शेख मुस्लिम पर लोहे की छड़ों से हमला हुआ था, जिसमें वह गंभीर रूप से घायल हो गया था। घटना पंचायत चुनाव शुरू होने से कुछ घंटों पहले की है, जब शेख जंगल को पार कर रहा था। अधिकारी ने कहा कि कोलकाता के एक निजी अस्पताल में उसकी मौत हो गई।

भांगड़ में पार्टी गतिविधियों की बागडोर संभाल रहे कैनिंग पूर्व से टीएमसी विधायक शौकत मुल्ला ने आईएसएफ कार्यकर्ताओं पर मुस्लिम पर बिना किसी उकसावे के हमला करने का आरोप लगाया। शौकत का कहना है कि आईएसएफ इलाके में आतंक का साम्राज्य स्थापित करना चाहती है। भांगड़ को आईएसएफ की दमदार पकड़ वाला इलाका माना जाता है और पार्टी का एकमात्र विधायक इसी विधानसभा क्षेत्र से है।

आईएसएफ विधायक नौशाद सिद्दीकी ने अपनी पार्टी के कार्यकर्ताओं की किसी भी तरह की हिंसा में संलिप्तता से इनकार किया है और इस तरह की घटनाओं के पीछे छिपे सच को सामने लाने के लिए एक उच्च स्तरीय निष्पक्ष जांच की मांग की है। सिद्दीकी ने दावा किया कि ये टीएमसी के गुंडे हैं जो अतीत में कई आईएसएफ कार्यकर्ताओं पर हमला कर चुके हैं और कई हत्याओं को अंजाम दे चुके हैं।

पुलिस सूत्रों ने कहा कि मुस्लिम की मौत के बाद आठ जून को जब से पंचायत चुनाव की तारीख घोषित हुई हैं तब से अब तक 39 लोगों की चुनाव से संबंधिंत हिंसा में मौत हो चुकी है। जिन लोगों ने अब तक जान गंवाई है उनमें से ज्यादातर लोग टीएमसी से संबंधित हैं। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की बंगाल इकाई के अध्यक्ष सुकांता मजूमदार ने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर चुनावी हिंसा की इस संस्कृति को रोक पाने में विफल होने का आरोप लगाया, जिसमें अब तक बहुत से लोगों की मौत हुई है।

उन्होंने कहा, ''हर मौत दुर्भाग्यपूर्ण और दुखद है। ऐसा नहीं होना चाहिए। ऐसा क्यों है कि केवल पश्चिम बंगाल में ही पंचायत चुनाव गोलियों, बमों, हिंसा और जानमाल के नुकसान का पर्याय बन गया है? इस बीच शुक्रवार रात को दक्षिण 24 परगना जिले के कैनिंग में एक व्यक्ति की चाकू मारकर हत्या कर दी गई। टीएमसी ने दावा किया कि मृतक उसकी पार्टी का समर्थक था और आरोप लगाया कि आईएसएफ इस हत्या में शामिल है। पुलिस सूत्रों ने इस बात की पुष्टि नहीं की है कि यह हत्या राजनीति से जुड़ी है या नहीं।

अबू धाबी एयरपोर्ट पर पीएम का भव्य स्वागत

अबू धाबी एयरपोर्ट पर पीएम का भव्य स्वागत   

अखिलेश पांडेय   

आबू धाबी। संयुक्त अरब अमीरातके दौरे पर पहुंचे प्रधानमंत्री मोदी, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी फ्रांस दौरे को खत्म करने के बाद आज संयुक्त अरब अमीरात के दौरे पर पहुंचे। जहां अबू धाबी एयरपोर्ट पर पहुंचते ही पीएम मोदी का जोरदार स्वागत किया गया। पीएम मोदी अपने इस दौरे पर राष्ट्रपति शेख मोहम्मद बिन जायद से मिलेंगे। इस दौरान दोनों देशों के बीच कई अहम समझौते भी होंगे। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी एक दिवसीय यात्रा पर अबू धाबी पहुंचे हैं।

संयुक्त अरब अमीरात की यात्रा के दौरान मोदी शीर्ष नेतृत्व के साथ खासतौर पर ऊर्जा, खाद्य सुरक्षा और रक्षा क्षेत्रों पर बातचीत कर सकते हैं। इस दौरान दोनों रणनीतिक साझेदार देश एक ऐतिहासिक व्यापार समझौते पर हुई प्रगति की समीक्षा करेंगे।  पीएम मोदी फ्रांस की दो दिवसीय यात्रा संपन्न करने के बाद अबू धाबी पहुंचे हैं। वह फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुअल मैक्रों के साथ विशिष्ट अतिथि के रूप में बैस्टिल दिवस परेड में शामिल हुए थे और उन्होंने द्विपक्षीय संबंधों को मजबूत करने के लिए कई समझौतों पर हस्ताक्षर किए थे।

प्रधानमंत्री ने यूएई की यात्रा पर रवाना होने से पहले बृहस्पतिवार को एक बयान में कहा था, ‘‘मैं अपने मित्र शेख मोहम्मद बिन जायद अल नाह्यान से मुलाकात करने के लिए उत्साहित हूं।” उन्होंने कहा था, ‘‘दोनों देश व्यापार, निवेश, ऊर्जा, खाद्य सुरक्षा, विज्ञान और प्रौद्योगिकी, शिक्षा, फिनटेक, रक्षा, सुरक्षा और लोगों के बीच परस्पर मजबूत संबंधों जैसे व्यापक क्षेत्रों में सक्रिय हैं।”

संयुक्त अरब अमीरात की यात्रा के दौरान पीएम मोदी वहां के शीर्ष नेतृत्व के साथ खासतौर पर ऊर्जा, खाद्य सुरक्षा एवं रक्षा जैसे मुद्दों पर बातचीत कर सकते हैं। इस दौरान दोनों रणनीतिक साझेदार देश एक ऐतिहासिक व्यापार समझौते पर हुई प्रगति की समीक्षा भी करेंगे। दोनों देशों के बीच आर्थिक भागीदारी को नयी गति देने वाले वृहद आर्थिक साझेदारी समझौते (सीईपीए) पर कोविड-19 महामारी के दौरान हस्ताक्षर किए गए थे।

यूपी: आजम दोषी करार, 2 साल की सजा

यूपी: आजम दोषी करार, 2 साल की सजा   

सत्येंद्र पंवार   

रामपुर। समाजवादी पार्टी के नेता आजम खान को भड़काऊ भाषण के एक मामले में कोर्ट ने दोषी करार दिया है। आजम खान ने 2019 के लोकसभा चुनाव प्रचार के दौरान भड़काऊ भाषण दिया था। खान ने एक जनसभा में अपमानजनक और भड़काऊ भाषण दिया था। उन्होंने पीएम नरेंद्र मोदी और सीएम योगी आदित्यनाथ पर भी टिप्पणी की थी। इस मामले में एडीओ  पंचायत अनिल कुमार ने शहजादनगर थाने में मुकदमा दर्ज कराया था। ये मामला एमपी-एमएलए कोर्ट में चल रहा था। कोर्ट ने आजम खान को दोषी करार दिया है और 2 साल की सजा का फैसला सुनाया है।

हेट स्पीच मामले में एलपी-एमएलए कोर्ट का फैसला आने के बाद दोषी पाए गए आजम खान को 2 साल की सजा सुनाए जाने के बाद न्यायिक हिरासत में ले लिया गया। आजम खान के वकील अब उनकी जमानत के लिए अर्जी लगा रहे हैं। आजम खान पर धारा 171 G ओर धारा 505 (1)B और लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम की धारा 125 में के तहत मुकदमा चलाया गया था। ये मुकदमा 2019 में। दर्ज हुआ

रामपुर की एक विशेष अदालत में इस मामले के संबंध में आजम खान की ओर से जिरह पहले ही पूरी हो गई थी और सांसद/विधायक मजिस्ट्रेट शोभित बंसल ने अपना फैसला सुनाने के लिए 15 जुलाई की तारीख तय की थी। गौरतलब है कि 2019 के लोकसभा चुनाव के दौरान सपा नेता आजम खान के खिलाफ थाना शहजादनगर के धमोरा में एक चुनावी जनसभा में कथित तौर पर भड़काऊ भाषण देने को लेकर एक मामला तत्कालीन वीडियो निगरानी टीम प्रभारी अनिल कुमार चौहान ने दर्ज कराया था। इस मामले में आजम खान पर तत्कालीन मुख्यमंत्री, रामपुर के तत्कालीन जिला निर्वाचन अधिकारी और निर्वाचन आयोग को निशाना बनाते हुए भड़काऊ भाषण देने का आरोप लगाया गया।

पिछले साल रामपुर की एक एमजी/एमएलए कोर्ट ने आजम खान को 2019 के एक अन्य नफरती भाषण मामले में दोषी ठहराया था और उन्हें तीन साल की सजा सुनाई थी। जिसके बाद उन्हें उत्तर प्रदेश विधानसभा की सदस्यता से अयोग्य घोषित कर दिया गया था। आजम खान के खिलाफ उक्त मामला अप्रैल 2019 में मिलक कोतवाली क्षेत्र के खत नगरिया गांव में एक जनसभा को संबोधित करते हुए रामपुर में तैनात प्रशासनिक अधिकारियों, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के खिलाफ भड़काऊ भाषण देने के आरोप में दर्ज किया गया था।

अलग-अलग हादसों में 5 कांवड़ियों की मौत

अलग-अलग हादसों में 5 कांवड़ियों की मौत   

श्रीराम मौर्य  

हरिद्वार। डाक कांवड़ की भागमभाग में अलग-अलग हादसों में पांच कांवड़िये की मौत हो गई जबकि 50 से अधिक घायल हो गए। पुलिस ने घायलों को अलग-अलग अस्पताल में भर्ती कराया जहां उनका उपचार किया जा रहा है। बाईपास से लेकर हाईवे पर शुक्रवार की रात बाइक और अन्य वाहन टकराने से हादसे हुए।

दोनों जगहों पर कांवड़ियों की इतनी भीड़ थी कि रातभर जाम लगता रहा। जबकि भीड़भाड़ और तेज वाहन रफ्तार हादसों का कारण बने। अलग-अलग हुए हादसों में पांच कांवड़ियों की मौत हो गई। जबकि 50 से अधिक घायल हो गए हैं।

पुलिस ने घायलों को रुड़की सिविल अस्पताल के अलावा अन्य अस्पतालों में भर्ती कराकर उपचार दिलाया। एसपी देहात एसके सिंह ने बताया कि अलग-अलग जगहों पर हुए हादसों में अमित निवासी दिल्ली, चेतन निवासी नोएडा, हनी निवासी सहारनपुर, हरिराम निवासी दिल्ली और मोहित निवासी कुरुक्षेत्र की हादसों में मौत हो चुकी है। मृतकों के परिजनों को सूचित कर दिया गया है। साथ ही सभी का पोस्टमार्टम कराया जा रहा है।

नीतीश व तेजस्वी की जांच, दल पटना पहुंचा   

नीतीश व तेजस्वी की जांच, दल पटना पहुंचा   

अविनाश श्रीवास्तव  

पटना। भाजपा के 13 जुलाई को पटना में हुए विधानसभा घेराव का प्रदर्शन के दौरान पुलिस लाठीचार्ज मामले की जांच करने के लिए शनिवार को बीजेपी की जांच दल पटना पहुंची। भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा ने झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास के नेतृत्व में चार सदस्यीय जांच दल का एक दिन पहले ही गठन किया था। इसमें दिल्ली के सांसद मनोज तिवारी, झारखंड के पलामू के सांसद विष्णु दयाल राम और हरियाणा के सिरसा की सांसद सुनीता दुग्गल शामिल हैं। जांच दल ने पटना में डाक बंगला बंगला चौराहे पर जाकर उस जगह को देखा जहाँ लाठीचार्च की घटना हुई थी। 

रघुवर दास, मनोज तिवारी, विष्णु दयाल राम और सुनीता दुग्गल को स्थानीय भाजपा नेताओं ने 13 जुलाई के घटनाक्रम के बारे में विस्तार से बताया। भाजपा के प्रदर्शन को रोकने के लिए कैसे पुलिस ने लाठीचार्च किया और इस दौरान किस तरह से भाजपा के नेताओं को निशाना बनाया गया पूरा विवरण जांच दल को दिया गया। भाजपा नेता मनोज कुमार ने विस्तार से जांच दल को पूरी घटना की जानकारी दी। साथ ही भाजपा नेता विजय सिंह की मौत पर भी जांच दल को विस्तार से बताया गया।

वहीं बाद में जांच दल ने पटना के विभिन्न अस्पतालों में दाखिल भाजपा ने उन घायल नेताओं और कार्यकर्ताओं का हाल जाना जो लाठीचार्ज में घायल हुए थे। सभी से घटना की पूरा विवरण और कैसे पुलिस की लाठी का लोग शिकार हुए सबकुछ जाना गया। इस बीच, जांच दल ने सबसे बात करने के बाद एक रिपोर्ट भी तैयार की है जिसे भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा को सौंपा जाएगा।

इसके पूर्व जांच दल का पटना में भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष सम्राट चौधरी ने स्वागत किया। उन्होंने कहा, 13 जुलाई को महागठबंधन सरकार ने लोकतांत्रिक मूल्यों को तार-तार कर भाजपा द्वारा आयोजित शांतिपूर्ण "विधानसभा मार्च" पर पुलिसिया बबर्रता का कहर ढाया था। राज्य सरकार के तानाशाही कार्रवाई के संबंध में बिहार आई भाजपा की उच्च स्तरीय जांच समिति के सदस्य झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास, सांसद मनोज तिवारी, विष्णु दयाल राम और सुनीता दुग्गल का स्वागत किया। उन्होंने कहा कि यह जांच समिति घटना की रिपोर्ट माननीय राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा को सौंपेगी।

यूपी के 20 जिलों में भारी बारिश का अलर्ट जारी 

यूपी के 20 जिलों में भारी बारिश का अलर्ट जारी   

प्रिया तोमर   

लखनऊ/मुजफ्फरनगर। एक बार फिर अगले 24 घंटों तक 20 जिलों में भारी बारिश की तो कहीं हल्की बारिश की चेतावनी जारी की है। प्रदेश में लगातार भारी वर्षा होने के कारण कई नदियों में बाढ़ की स्थिति बनी हुई है। मौसम विभाग ने कई जिलों में तेज हवाओं के साथ भारी बारिश व बिजली गिरने की भी संभावना जताई है। राजधानी लखनऊ समेत आसपास के क्षेत्रों में कल देर रात से बारिश हो रही है। हर जगह जलभराव हो गया है। सड़कों में गड्ढे होने की वजह से लोग उसमे गिरकर चोटिल हो रहे हैं।

मौसम विभाग ने अगले 2-3 दिनों के दौरान पश्चिमी उत्तर प्रदेश में गाजियाबाद, नोएडा, मेरठ, आगरा, औरेया, इटावा, फतेहपुर, फिरोजाबाद, हाथरस, जालौन, झांसी, कानपुर, कानपुर देहात, ललितपुर, मथुरा, प्रतापगढ़, रायबरेली और उन्नाव जिलों में भारी बारिश की संभावना है।

अगले 24 घंटे के दौरान गोरखपुर, रायबरेली, बलरामपुर, गोंडा, बस्ती, बदायूं, ललितपुर, मेरठ, बुलन्दशहर, हमीरपुर, फिरोजाबाद, झांसी, बुलन्दशहर, आगरा, एटा, मथुरा, सोनभद्र, कानपुर देहात, जालौन, बागपत, कासगंज, हमीरपुर, इटावा, हापुड, हाथरस, बिजनौर, मुज़फ्फरनगर सहित कई जिलों में हल्की से मध्यम बारिश देखने को मिल सकती है।

राहत आयुक्त द्वारा उपलब्ध कराए गए विवरण के अनुसार प्रदेश में विगत 24 घण्टों में आकाशीय विद्युत से 9, डूबने से 7 तथा सर्पदंश से 1 जनहानि हुई हैं। इनमें आकाशीय विद्युत से जनपद सुल्तानपुर व बदायूं में 1-1, गाजीपुर में 5, बलिया में 2, डूबने से सुलतानपुर एवं कानपुर देहात में 1-1, बिजनौर में 3, अमेठी में 2 तथा सर्पदंश से सीतापुर में 1 जनहानि हुई है।

पिछले 24 घण्टे में प्रदेश में 9.7 मि.मी. वर्षा दर्ज की गयी है। 1 जून, 2023 से अब तक 236.7 मि.मी. औसत वर्षा हुई, जो सामान्य वर्षा 209.4 मि.मी. के सापेक्ष 113 प्रतिशत है। प्रदेश के 19 जनपदों में अत्यधिक वर्षा (60 प्रतिशत अधिक), 13 जनपदों में अधिक वर्षा (20 से 59 प्रतिशत अधिक), 20 जनपदों में सामान्य वर्षा, 18 जनपदों में कम वर्षा (20 से 59 प्रतिशत कम) तथा 5 जनपदों में अत्यधिक कम वर्षा (60 से 99 प्रतिशत कम) दर्ज की गयी है।

विगत 24 घण्टे में प्रदेश के कई जनपदों में सामान्य से अधिक वर्षा हुई है। जिनमें जनपद मैनपुरी, मुरादाबाद, कन्नौज, फर्रुखाबाद, इटावा, कासगंज, सम्भल तथा महाराजगंज में 30 मि.मी. से अधिक वर्षा दर्ज की गई है। सिंचाई विभाग से प्राप्त सूचना के अनुसार गंगा जी कचला ब्रिज (बदायूं), यमुना जी मावी (मुजफ्फरनगर) खतरे के जलस्तर से ऊपर बह रही हैं। वहीं जनपद अलीगढ़, मेरठ, सहारनपुर, गौतमबुद्धनगर, शामली, गाजियाबाद, बागपत व मुजफ्फरनगर को छोड़कर कहीं भी अतिवृष्टि या जलभराव के कारण लोगों को बाढ़ शरणालय में ले जाने की आवश्यकता नहीं पड़ी है।

जनपद सहारनपुर के 104 गांव तथा 13 नगरीय मोहल्ले, शामली के 25 गांव (केवल कृषि क्षेत्र ही प्रभावित), गौतमबुद्धनगर के 6 गांव, बागपत के 11 (केवल कृषि क्षेत्र ही प्रभावित), मुजफ्फरनगर के 12 गांव, जनपद अलीगढ़ के 10, मथुरा के 12, मेरठ के 15, गाजियाबाद के 9 बाढ़ गांव प्रभावित हैं। इन क्षेत्रों के कुल 5,043 लोगों को बाढ़ शरणालय में रखा गया है। इनके भोजन एवं रहने की उचित व्यवस्थाएं की गई हैं।

कुल्लू में फटा बादल, आफत की बरसात

कुल्लू में फटा बादल, आफत की बरसात

अजय सूर्या

कुल्लू। हिमाचल प्रदेश के कुल्लू जिले की लगवैली में शनिवार को बादल फटने की सूचना से अफरा-तफरी मच गई। बादल फटने के बाद सरवरी खड्ड में बाढ़ आ गई। कुल्लू में सुबह से मौसम खराब चल रहा है।

गांव के लोगों ने घटना की सूचना प्रशासन को दी और एहतियातन कुल्लू जा रही बस को तुरंत खाली करवाया गया। अन्य वाहनों को भी सड़क के एक तरफ किया गया।सरवरी खड्ड में आई बाढ़।

उपायुक्त कुल्लू के बोल

उपायुक्त कुल्लू आशुतोष गर्ग ने कहा कि आज सुबह लगवैली के गोरु डुग, फाटी, पिछली पतवार में बादल फटने के कारण छोरक पुल के पास दो मकान के अलावा पांच गोशाला बहने की सूचना है। उन्होंने बताया कि इस घटना में किसी भी प्रकार के जानमाल व पशुधन को नुकसान नहीं हुआ है।

एसडीएम कुल्लू के बोल

एसडीएम कुल्लू विकास शुक्ला ने कहा कि सुबह लगभग सात बजे लगवैली के समालंग में बादल फटने की सूचना मिली थी। जानकारी के मुताबिक, सरवरी खड्ड का पानी जरूर बढ़ा है, लेकिन खतरे वाली बात नहीं है।

बादलों में उठा बवंडर, लोगों की रूह कांप गई

बादलों में उठा बवंडर, लोगों की रूह कांप गई 

अखिलेश पांडेय   

मैक्सिको सिटी। वो कहते हैं न जब कुदरत का कहर टूटता है तो इंसान के बस में कुछ नहीं रहता है। कुदरत के कहर के आगे इंसान इतना बेबस हो जाता है कि कुछ नहीं कर पाता है। चाहें कोई भी प्राकृतिक आपदा हो हर किसी के दिल में डर पैदा करती है। सोशल मीडिया पर कई बार तेज बारिश और तूफान के दौरान आकाशीय बिजली गिरने के वीडियो सामने आते रहते हैं। ये वीडियो इतने खतरनाक होते हैं कि इसे देखकर किसी भी इंसान के अंदर डर पैदा हो जाए। इन दिनों सोशल मीडिया पर एक ऐसा वीडियो वायरल हो रहा जिसे देखकर आप भी डर जाएंगे। इस वीडियो में आसमान में बादलों के बीच जबरदस्त हलचल देखी जा सकती है। 

सोशल मीडिया पर वायरल यह वीडियो मैक्सिको का बताया जा रहा है। इस वीडियो में आसमान में तेज गति घूमता हुआ बादल नजर आ रहा है। वहीं ये बादल आसमान में घूमते हुए टॉरनेडो बन जाता है, जो काफी तबाही मचा देता है। बता दें इस तरह के टॉरनेडो उत्तरी अमेरिका और मैक्सिको में खूब देखने को मिलते हैं, जिससे वहां बहुत तबाही भी हो चुकी है।

इस वीडियो में नजर आ रहा है कि तेज गति से घूमते हुए बादल से पूंछ की तरह बादल निकलने लगता है। यह बादल कुछ दूरी पर आसमान की तरफ उड़ रही तेज धूल में जाकर मिल जाता है। वहीं इस तेज गति से उड़ रहे धूल का एक सिरा जमीन को छू रही है तो दूसरा सिरा तेज गति से बनने वाले अलग प्रकार के बादल को छू रही है। 

बता दें इस वीडियो को ट्वीट करते हुए वंडर ऑफ साइंस ने इसे टॉरनेडो बनने का शानदार क्लोज अप वीडियो बताया। इस वीडियो में बादल इतनी तेजी के घूम रहा जिससे लगता है कि धरती पर कोई बड़ा आसमानी संकट आने वाला है। तेज गति से घूमता हुआ यह बादल आसमान के कुछ हिस्सों में ही नजर आ रहा है, लेकिन यह बहुत ज्यादा डरावना है।

यूरोप में परमाणु बम तैनात कर रहा अमेरिका

यूरोप में परमाणु बम तैनात कर रहा अमेरिका 
सुनील श्रीवास्तव   
वॉशिंगटन डीसी। संयुक्त राज्य अमेरिका ने यूरोप में नाटो ठिकानों पर अपने परमाणु बमों की तैनाती को बढ़ाने का काम तेज कर दिया है। अमेरिकी अधिकारियों ने 6 महीने पहले ब्रसेल्स में बंद कमरे में हुई बैठक के दौरान नाटो सहयोगियों को बताया था कि उन्नत बी61-12 एयर-ड्रॉप ग्रेविटी बम बनाने का काम खत्म हो चुका है। इसे जल्द ही तैनात किया जाएगा।
रिपोर्ट के मुताबिक अमेरिका लगातार अपने पुराने बमवर्षकों और लड़ाकू विमानों को नया संस्करण दे रहा है, और लगातार यूरोप के कई हिस्सों में परमाणु बम तैनात कर रहा है। रूस ने यूक्रेन युद्ध में परमाणु बम का इस्तेमाल करने की धमकी दी थी। इसके बाद से अमेरिका ने पुराने परमाणु बमों को नया संस्करण देना भी शुरू कर दिया है।
रिपोर्ट के मुताबिक 2022 में अमेरिका ने बी 61 कार्यक्रम के उन्नयन पर वर्षों से बजट दस्तावेजों और सार्वजनिक बयानों में खुले तौर पर चर्चा की थी। पेंटागन के अधिकारियों ने कहा है कि भंडार का आधुनिकीकरण और सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए उन्नयन आवश्यक है।
पॉलिटिको में छपी खबर के मुताबिक पेंटागन के प्रवक्ता ब्रिगेडियर जनरल पैट्रिक राइडर ने ईमेल के माध्यम से जवाब दिया ” हम अपने परमाणु शस्त्रागार के विवरण पर चर्चा नहीं करेंगे। अमेरिकी बी 61 परमाणु हथियारों का आधुनिकीकरण सालों से चल रहा है।उन्नत बी 61-12 संस्करणों के लिए पुराने हथियारों को सुरक्षित और जिम्मेदारी से स्वैप करने की योजना लंबे समय से जारी है। यह किसी भी तरह से यूक्रेन में वर्तमान घटनाओं से जुड़ा नहीं है’।
रिपोर्ट के मुताबिक अमेरिका ने 2022 के अंत तक यूरोप में 100 B61 परमाणु हथियारों की तैनाती युरोप में की। ये बम दोहरे-सक्षम विमानों द्वारा तैनात किए गए हैं। इस बी 61-12 संस्करण में दक्षता और सटीकता दोनों में सुधार के लिए एक नई टेल किट शामिल है। रणनीतिक और सामरिक उपयोग दोनों के लिए इसका इस्तेमाल किया जाएगा।
क्या अमेरिका इसकी जानकारी छुपाता है
2019 में नाटो की एक संस्था ने एक दस्तावेज जारी किया और बाद में हटा दिया। इससे लंबे समय से चला आ रहा शक यकीन में बदल गया। अमेरिकी परमाणु हथियारों को कई यूरोपीय देशों में हवाई ठिकानों पर तैनात कर रहा है। इस दस्तावेज की एक प्रति बेल्जियम के अखबार डी मोर्गेन ने प्रकाशित की थी जिसमें कहा गया था कि बी61 परमाणु बम यूरोप के छह ठिकानों पर रखे हुए हैं।
सेंटर फॉर आर्म्स कंट्रोल एंड नॉन-प्रोलिफरेशन की एक फैक्टशीट के मुताबिक, बेल्जियम में क्लेन ब्रोगेल, जर्मनी में बुचेल, इटली में एवियानो और घेडी, नीदरलैंड में वोल्कल और तुर्की में इनसिरलिक ठिकानों पर अमेरिका ने परमाणु बम तैनात किए हैं।
अमेरिका में परमाणु बमों का इतिहास क्या है
हथियारों की उपस्थिती 1960 के दशक में शीत युद्ध के दौरान एक समझौते से उपजी है। इसका मकसद सोवियत संघ को रोकना और इसमें शामिल देशों को यह समझाना था कि उन्हें अपने खुद के परमाणु हथियार कार्यक्रमों को शुरू करने की कोई जरूरत नहीं है।
ऐतिहासिक रूप से संयुक्त राज्य अमेरिका ने ग्रीस और यूनाइटेड किंगडम सहित सभी यूरोपीय देशों में परमाणु बम और परमाणु-सशस्त्र मिसाइलों दोनों को तैनात किया है।
संयुक्त राज्य अमेरिका और उसके नाटो सहयोगियों ने यूरोप में तैनात किए गए बमों के सटीक आंकड़ों का खुलासा नहीं किया है। इन सभी हथियारों को भूमिगत तहखानों में रखा गया है। उन्हें कोई भी एक्शन लेने के लिए एक्शन लिंक (पीएएल) कोड अमेरिकी हाथों में रहता है।
1971 में शीत युद्ध के तनाव के दौरान यूरोप में स्थित परमाणु हथियारों की कुल संख्या 7,300 के सर्वकालिक शिखर पर पहुंच गई। हांलाकि अमेरिका ने बाद में परमाणु बमों को कम करने की बात भी कही, लेकिन पिछले 2 सालों में इस बात के सबूत लीक हुए कि अमेरिका यूरोप में परमाणु बम की तैनाती कर रहा है।
विशेषज्ञों का अनुमान है कि पांच नाटो देशों के बीच लगभग 100 ऐसे बम संग्रहीत किए गए हैं, जो जेट विमानों पर लोड करने के लिए तैयार हैं। इस बम का एक संस्करण 11 हिरोशिमा के बराबर विस्फोटक ले जा सकता है।

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण


1. अंक-273, (वर्ष-06) पंजीकरण:- UPHIN/2010/57254

2. रविवार, जुलाई 16, 2023

3. शक-1944, श्रावण, कृष्ण-पक्ष, तिथि-चतुर्दशी, विक्रमी सवंत-2079‌‌।

4. सूर्योदय प्रातः 05:16, सूर्यास्त: 07:11। 

5. न्‍यूनतम तापमान- 19 डी.सै., अधिकतम- 35+ डी.सै.। बरसात की संभावना बनी रहेगी।

6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है। 

7.स्वामी, मुद्रक, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम व शिवांशु  (विशेष संपादक) श्रीराम व सरस्वती (सहायक संपादक) संरक्षण-अखिलेश पांडेय, ओमवीर सिंह, वीरसैन पंवार, योगेश चौधरी आदि के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी।

8. संपर्क व व्यवसायिक कार्यालय- चैंबर नं. 27, प्रथम तल, रामेश्वर पार्क, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102। 

9. पंजीकृत कार्यालयः 263, सरस्वती विहार लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102

http://www.universalexpress.page/ www.universalexpress.in 

email:universalexpress.editor@gmail.com 

संपर्क सूत्र :- +919350302745--केवल व्हाट्सएप पर संपर्क करें, 9718339011 फोन करें।

(सर्वाधिकार सुरक्षित)

'पीएम' मोदी ने अभिनेत्री रश्मिका की तारीफ की

'पीएम' मोदी ने अभिनेत्री रश्मिका की तारीफ की अकांशु उपाध्याय  नई दिल्ली। नेशनल क्रश रश्मिका मंदाना सिर्फ साउथ सिनेमा का ही नहीं, अब ...