मंगलवार, 17 सितंबर 2019

अफगान में ब्लास्ट 24 की मौत 32 घायल

काबुल। अफगानिस्तान के परवान प्रांत में मंगलवार को राष्ट्रपति अशरफ गनी की रैली में हुए आत्मघाती बम धमाके में कम से कम 24 लोगों की मौत हो गई और 32 लोग घायल हो गए। धमाके के समय गनी वहीं पर मौजूद थे। अस्पताल के अधिकारियों ने यह जानकारी दी। परवान अस्पताल के निदेशक डॉक्टर अब्दुल कासिम संगिन ने कहा कि मृतकों में महिलाएं और बच्चे भी शामिल हैं। गृह मंत्रालय के प्रवक्ता नसरत रहीमी ने कहा कि हमलावर मोटरसाइकिल पर आए और रैली स्थल के नजदीक पुलिस चौकी में बम लगाकर धमाका कर दिया। हालांकि गनी को कोई चोट नहीं आई। किसी भी समूह ने अभी तक हमले की जिम्मेदारी नहीं ली है।


बसपा विधायक कांग्रेस में शामिल क्यों

मायावती बताएं कि आखिर हर बार बसपा के विधायक ही कांग्रेस में क्यों शामिल होते हैं? बसपा विधायक राजेन्द्र गुढा ने आरोप लगाया था कि मायावती पैसे लेकर टिकट देंती हैं। मायावती में दम हो तो एमपी में कांग्रेस सरकार से समर्थन वापस लें। ट्वीट करने से क्या होता है। मायावती अपनी सोच बदलें-सीएम गहलोत। 

जयपुर। राजस्थान में यह दूसरा मौका है, जब बहुजन समाज पार्टी के सभी 6 विधायक कांग्रेस में शामिल हो गए। वर्ष 2009 में भी अशोक गहलोत के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार को मजबूती देने के लिए बसपा के सभी छह विधायक कांग्रेस में शामिल हो गए थे। अब बसपा सुप्रीमो मायावती को बताना चाहिए कि आखिर हर बार उन्हीं की पार्टी के  विधायक  कांग्रेस में शामिल  क्यों होते हैं? एक राजनीतिक पार्टी के लिए इससे ज्यादा शर्मनाक बात नहीं हो सकती कि सभी विधायक रातों रात पाला बदल लें। मायावती का दावा रहता है कि उनकी पार्टी दलितों की पार्टी है और पार्टी की एक विचारधारा है। हालांकि राजस्थान में बसपा के विधायक राजेन्द्र गुढा का तो आरोप है कि मायावती और उनके समर्थक पैसा लेकर टिकिट देते हैं। गुढा ने यह बयान कोई एक माह पहले दिया था, लेकिन मायावती ने न तो कोई जवाब दिया और न ही गुढा के खिलाफ कोई कार्यवाही की। क्या बसपा ऐसी ही विचारधारा वाली पार्टी है? क्या मायावती को राजस्थान में ऐसे उम्मीदवार नहीं मिलते तो पार्टी के प्रति वफादार रहें? या फिर राजेन्द्र गुढा के आरोप सही हैं। जब पैसे देकर टिकिट लिया जाएगा, तब विधायक बनने के बाद पैसों की वसूली तो की जाएगी? क्या पैसों के आगे विचारधारा गौण हैं? जो मतदाता मायावती की पार्टी को दलितोंकी पार्टी मान कर वोट देते हैं, उन्हें बसपा विधायकों के पाला बदलने की घटना से सबक लेना चाहिए। बसपा छोड़कर कांग्रेस में शामिल होने वाले विधायक राजेन्द्र गुढा, जोङ्क्षगदर अवाना, लाखन सिंह, दीपचंद खेरिया, संदीप यादव और वाजिब अली को मतदाताओं ने कांग्रेस के खिलाफ वोट देकर जिताया था। अब ये सभी विधायक कांग्रेस में शामिल हो गए हैं। क्या यह मतदाताओं के साथ धोखाधड़ी नहीं हैं?
एमपी में समर्थन वापसी क्यों नहीं:
राजस्थान की घटना पर मायातवी ने ट्वीट पर कड़ी टिप्पणी की। माया ने कांग्रेस को गैर जिम्मेदार धोखेबाज और दलित विरोधी पार्टी बताया है। सवाल उठता है कि जब मायावती को कांग्रेस से इतनी नाराजगी है तो फिर मध्यप्रदेश में कांग्रेस सरकार को समर्थन क्यों दे रखा है? मायावती के समर्थन की वजह से ही एमपी में कमलनाथ की सरकार टिकी हुई है। यदि बसपा विधायक समर्थन वापस ले लें तो कांग्रेस सरकार अल्पमत में आ जाएगी। एमपी में बहुमत के लिए 115 विधायक चाहिए। कांग्रेस के पास 114 विधायक हैं, लेकिन 2 बसपा, 1 सपा ने समर्थन दे रखा है। अब यदि मायावती दो विधायक समर्थन वापस ले लें तो कांग्रेस की सरकार अल्पमत में आ जाएगी। लेकिन मायावती को भी पता है कि जब राजस्थान में 6 विधायक पाला बदल सकते हैं, तब एमपी में दो विधायक भी कांग्रेस में शामिल हो सकते हैं। मायावती अपने विधायकों को अच्छी तरह जानती है। 
गहलोत की दो टूक:
बसपा के सभी छह विधायकों के कांग्रेस में शामिल होने और बसपा प्रमुख मायावती के बयान का जवाब देते हुए 17 सितम्बर को मुख्यमंत्री गहलोत ने कहा कि अब मायावती को अपनी सोच में बदलाव करना चाहिए। बसपा की विधायक शुरू से ही मेरी सरकार को समर्थन दे रहे थे। अब इन विधायकों ने अपने स्तर पर यह महसूस किया कि उन्हें अपने क्षेत्र के विकास के लिए कांग्रेस में शामिल होना चाहिए। गहलोत ने कहा कि एक समय उत्तर प्रदेश में भी कांग्रेस ने बसपा को बिना शर्त समर्थन दिया था। मैं आज भी इस पक्ष में हंू कि बसपा जैसे राजनीतिक दल कांग्रेस के साथ मिल कर काम करें। उन्होंने कहा कि बसपा विधायकों के कांग्रेस में शामिल होने का असर नवम्बर में होने वाले तीन राज्यों पर कितना पड़ेगा यह आने वाला समय ही बताएगा। मैं इतना कह सकता हंू कि बसपा विधायकों को कांग्रेस में शामिल करने को लेकर कोई सौदेबाजी नहीं हुई, जबकि भाजपा तो मध्यप्रदेश में करोड़ों रुपए का प्रस्ताव कर रही है। भाजपा को बसपा विधायकों के कांग्रेस में शामिल होने पर कोई सवाल करने का अधिकार नहीं क्योंकि कई राज्यों में भाजपा ने अल्पमत में होने के बावजूद भी सरकार का गठन किया है। सब जानते हैं कि इन राज्यों में भाजपा ने किस तरह सरकार बनाई है। 
एस.पी.मित्तल


आने वाले दिन कांग्रेस में मचाएंगे खलबली

#6013
अब सचिन पायलट से भी लिया जा सकता है राजस्थान प्रदेश कांगे्रस कमेटी के अध्यक्ष का पद। बसपा के सभी 6 विधायकों के कांग्रेस में शामिल होने पर कांग्रेस संगठन पर ज्यादा असर।
===========
16 सितम्बर की रात को राजस्थान में बसपा के सभी 6 विधायक कांग्रेस में शामिल हो गए। 200 में अब कांग्रेस के विधायकों की संख्या 106 हो गई है। इससे अशोक गहलोत की सरकार तो मजबूत होगी, लेकिन ज्यादा असर कांग्रेस संगठन पर पड़ेगा। हो सकता है कि अब डिप्टी सीएम सचिन पायलट से प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष का पद वापस ले लिया जाए। बसपा के 6 विधायकों को कांग्रेस में शामिल करवाने में प्रदेशाध्यक्ष की हैसियत से पायलट की कोई भूमिका नहीं रही। राजनीतिक दृष्टि से यह बड़ी घटना है, लेकिन इसमें प्रदेशाध्यक्ष की कोई भूमिका नहीं होने से साफ जाहिर है कि राजस्थान में सत्ता और संगठन एक पटरी पर नहीं है। पायलट पहले ही अपनी सरकार के कामकाज को लेकर प्रतिकूल टिप्पणी कर चुके हैं। सूत्रों की माने तो राजस्थान में सता और संगठन में जो कुछ भी हो रहा है उसकी जानकारी राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीमती सोनिया गांधी को है। सोनिया गांधी चाहती हैं कि जानवरी में होने वाले पंचायती राज चुनाव में कांग्रेस को सफलता मिले। लेकिन यह तभी संभव है, जब उम्मीदवारों का चयन मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की सहमति से हो। पायलट प्रदेशाध्यक्ष के पद पर रहते ऐसा संभव नहीं है। असल में मौजूदा परिस्थितियों में पायलट को हटाना जोखिम भरा था, इसलिए पहले सरकार की मजबूती सुनिश्चित की गई। अब जब सरकार पूर्ण रूप से मजबूत हो गई है तो पायलट को हटाने वाला बड़ा फैसला भी किया जा सकता है। 12 निर्दलीय विधायकों का समर्थन गहलोत के पास है। ऐसे में गहलोत को 200 में से 118 विधायकों का समर्थन है। आरएलडी के सुभाष गर्ग पहले से ही गहलोत के साथ हैं। यानि अब अशोक गहलोत संगठन में कोई भी जोखिम ले सकते हैं। जागरुक पाठकों को याद होगा कि विधानसभा चुनाव के अवसर पर गहलोत ने कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव की हैसियत से बयान दिया था कि राजस्थान में सहयोगी दलों के साथ गठबंधन किया जा सकता है, तब गहलोत ने बसपा की ओर इशारा भी किया था, लेकिन तब प्रदेशाध्यक्ष की हैसियत से पायलट ने गठबंधन को नकार दिया। गहलोत के समर्थक माने जाने वाले सुभाष गर्ग का टिकिट भी भरतपुर से काट दिया गया था, लेकिन गहलोत ने गर्ग को आरएलडी का उम्मीदवार बनवा दिया। सूत्रों के अनुसार आने वाले दिनों में कांग्रेस संगठन में खलबली मचाएंगे। देखना होगा कि इन सब हालातों पर पायलट की क्या प्रतिक्रिया होती है। 
एस.पी.मित्तल


जन्मदिन: बुजुर्गों के प्रति सम्मान

मां का सम्मान करने की प्रेरणा भी दी नरेन्द्र मोदी ने अपने जन्मदिन पर।
गांधी नगर जाकर मां हीरा बा के साथ भोजन किया। 

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 69वें जन्मदिन पर मां का सम्मान करने की प्रेरणा भी दी है। ऐसा नहीं कि लोग अपने माता-पिता का सम्मान नहीं करते। लेकिन समाज में उपभोक्तावादी संस्कृति और एकल परिवार की प्रवृत्ति बढऩे से माता-पिता स्वयं को उपेक्षित समझ रहे हैं। जन्मदिन के मौके पर अनेक परिवार किसी रिसोर्ट या होटल में लंच डिनर करने जाते हैं, कुछ लोग अपने माता-पिता को भी साथ ले जाते हैं, लेकिन महानगरों में नौकरी करने वाले बेटे-बहू तो अपने हाल में ही मस्त रहते हैं। कुछ समझदार बहुएं कोरियर से सास-ससुर को गिफ्ट भिजवा देती हैं, ताकि माल के बंटवारे का ख्याल बना रहे। हम सब जानते हैं कि परिवार में बुजुर्गों की स्थिति कैसी है? लेकिन वो लोग भाग्यशाली है जो अपने माता-पिता का आशीर्वाद लेते हैं। ऐसे लोगों में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी भी शामिल है। आज हर क्षेत्र में मोदी को सफलता मिल रही है। भारत जैसे धर्मनिरपेक्ष देश में जम्मू कश्मीर में अनुच्छेद 370 को हटाने का काम कोई छोटा नहीं है। एक समय था, तब चर्चा करने मात्र से आग के गोले भड़क उठते थे, लेकिन मोदी ने 370 को हटा दिया और आज जम्मू-कश्मीर में शांति भी है। ऐसी सफलताओं के पीछे मां हीरा बा का आशीर्वाद भी है। जो लोग अपने जीवन में सफल होना चाहते हैं उन्हें नरेन्द्र मोदी की तरह अपनी मां का सम्मान करना चाहिए। एक मां के लिए इससे ज्यादा खुशी और क्या हो सकती है कि जन्मदिन के मौके पर बेटा साथ खाना खा रहा है। ऐसे खुशी के माहौल में मां के दिल से जो आशीष निकलेगा उससे और सफलता मिलेगी। जो लोग जन्मदिन के मौके पर सोशल मीडिया में फोटो पोस्ट करते हैं उन्हें प्रधानमंत्री मोदी से प्रेरणा भी लेनी चाहिए। मोदी ने मां के साथ खाना खाते हुए फोटो जारी किया है। यह फोटो अपने आप में बुजुर्गों के प्रति सम्मान करने की प्रेरणा देता है। 
एस.पी.मित्तल


नमो सेना का निशुल्क स्वास्थ्य शिविर

नमो सेना इंडिया का निशुल्‍क स्वास्थ्य शिविर 
मोहित श्रीवास्तव
गाजियाबाद,लोनी। आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जन्मदिन पर देश में विभिन्न संगठन और संस्थाओं के द्वारा विभिन्न तरीके से जन्मदिन मनाया गया। जिसके अंतर्गत नमो सेना इंडिया के द्वारा स्वास्थ्य शिविर का आयोजन किया गया। दिल्ली-सहारनपुर रोड स्थित लोनी इंटर कॉलेज के पास संगठन के द्वारा कैंप लगाकर सैकड़ों लोगों की निशुल्क जांच की। संगठन के गाजियाबाद जिला अध्यक्ष एडवोकेट धर्मेंद्र बैसोया ने बताया नमो सेना इंडिया का उद्देश्य स्वास्थ्य, जनसंख्या नियंत्रण, प्रदूषण आदि विषयों पर जागरूकता फैलाना है। डॉ विजय बैसोया एवं सहयोगियों के द्वारा निशुल्क स्वास्थ्य परीक्षण एवं दवा वितरण की। इस अवसर पर क्षेत्र क्षेत्रीय विधायक नंदकिशोर गुर्जर ने कैंप में पहुंचकर संगठन एवं डॉक्टरों की टीम का उत्साह वर्धन किया।  इस अवसर पर कुलदीप सिंह, सचिन बसोया, पिंटू नंबरदार, सुमी बसोया आदि उपस्थित लोगों के द्वारा केक काटकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी  के जन्मदिन की एक दूसरे को बधाई देते हुए इस आयोजन को सफल बनाया।


दुखी जनता भाजपा को माफ नहीं करेगी

लखनऊ। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से आज संविदा पर कार्यरत नर्सिंग स्टाफ ने भेंटकर अपनी परेशानियां बताई। आउटसोर्सिंग कम्पनी अवनी परिधि के माध्यम से कई जनपदों में सीएमओ एवं सीएमएस के अधीन कार्यरत नर्सिंग स्टाफ को सितम्बर 2018 से अब तक कार्य करते हुए 11 महीने से अधिक समय बीच चुका है। इनको अभी तक कोई मानदेय नहीं मिला है। इनको अब सेवा समाप्ति आदेश दे दिया गया है और सिर्फ जून तक उन्हें मानदेय देने की बात की जा रही है। पीड़ित नर्सों ने बताया कि उन सभी ने माह अगस्त 2019 तक कार्य किया है। कोई सुनवाई नहीं होने से वे अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल पर बैठे हैं। उन्होंने सरकार से सेवा बहाली की मांग करते हुए एक ज्ञापन अखिलेश को भी सौंपा। उन्होंने यह भी कहा कि वे दो-दो वर्ष तक सेवारत रही है और अब भुखमरी की शिकार है। अखिलेश यादव ने नर्सिंग स्टाफ के साथ सहानुभूति जताते हुए कहा कि समाजवादी सरकार में पर्याप्त बजट था। भाजपा सरकार में सभी कर्मचारी दुःखी हैं। श्री यादव ने कहा कि बेरोजगारी में लगातार वृद्धि से स्थिति विस्फोटक हो गई है। भाजपा सरकार की यह संवेदनहीनता की पराकष्ठा है। दुःखी और परेशान जनता भाजपा को माफ नहीं करेगी। 
बृजेश केसरवानी


राष्ट्रपति के प्रेस सचिव की तलाश पूर्ण

नई दिल्ली। काफी दिनों से चल रही राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के नए प्रेस सचिव की तलाश अब पूरी हो गई है। इस पद पर वरिष्ठ पत्रकार अजय कुमार सिंह को नियुक्त किया गया है। कार्मिक एवं प्रशिक्षण विभाग की ओर से जारी आधिकारिक आदेश के मुताबिक, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली कैबिनेट की नियुक्ति समिति ने अजय कुमार सिंह (55) की नियुक्ति को मंजूरी दी है। उनकी नियुक्ति एक साल के लिए या अगले आदेश तक अनुबंध के आधार पर की गई है।


अजय कुमार सिंह को प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में काम करने का करीब 30 साल का अनुभव है। उन्होंने अपने करियर की शुरुआत वर्ष 1985 में 'टाइम्स ऑफ इंडिया' (लखनऊ) से की थी। बाद में उन्होंने दिल्ली में 'द पॉयनियर' जॉइन कर लिया था। पूर्व में वह 'बिजनेस स्टैंडर्ड' 'स्टार न्यूज' (अब एबीपी न्यूज) और 'न्यूज एक्स' में भी अपनी जिम्मेदारी निभा चुके हैं।   


'फर्स्टपोस्ट' में एग्जिक्यूटिव एडिटर की भूमिका निभाने से पहले वह 'गवर्नमेंस नाउ' मैगजीन में एडिटर के रूप में काम कर रहे थे। इसके बाद उन्होंने दोबारा 'गवर्नमेंस नाउ' में डायरेक्टर (एडिटोरियल) के पद पर वापसी की थी और इस साल की शुरुआत में इस मैगजीन का प्रिंट एडिशन बंद होने तक इसी पद पर काम कर रहे थे। यहां वह मैगजीन के अंग्रेजी और मराठी एडिशन की कमान संभाल रहे थे। फिलहाल वे 'फर्स्टपोस्ट' से कंट्रीब्यूटर के तौर पर जुड़े हुए हैं।


योगी का प्लास्टिक के विरुद्ध सख्त रुख

लखनऊ। उत्तर प्रदेश सरकार प्लास्टिक बैन को लेकर अब सख्त रूख अपना रही है। इसके तहत अधिकारी भी इसका सख्ती से पालन कर रहे हैं। इश क्रम में मुख्य सचिव राजेंद्र कुमार तिवारी ने सभी मंडलायुक्तों एंव जिलाधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि यूपी के सभी सरकारी कार्यालयों अौर बैठकों में प्लास्टिक की बोतलों का उपयोगा कतई नहीं होना चाहिए। यह भी निर्देश दिए कि प्रदेश सरकार की जन कल्याणकारी योजनाओं एवं कार्यक्रमों में और अधिक पारदर्शिता के साथ काम करें।


दिए जरूरी निर्देश-मुख्य सचिव ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए प्रदेश की विकास और कल्याणकारी योजनाओं के बारे में मंडलायुक्तों और जिलाधिकारियों को जरूरी निर्देश दे रहे थे। उन्होंने कहा कि स्वच्छ प्रशासन को प्राथमिकता देकर अधिकारी अपने शासकीय दायित्वों का पारदर्शिता के साथ निर्वहन करें। 'स्वच्छता ही सेवा पखवाड़ा के तहत बेहतर सफाई व्यवस्था सुनिश्चित कराई जाए।


पालन न करने पर होगी कड़ी कार्रवाई-उन्होंने कहा कि शासकीय धन का दुरुपयोग होने पर पारदर्शिता के साथ जांच कराकर दोषी पाए जाने पर सम्बन्धित अधिकारी या सम्बन्धित कार्यदायी संस्था के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई की जाए। तिवारी ने निर्देश दिए कि स्वच्छ भारत मिशन योजना (शहरी) के तहत जारी 428 करोड़ रुपये की धनराशि का पारदर्शिता के साथ उपयोग कराने के लिए जनपद स्तर पर गठित कमेटी की बैठक जल्द बुलाई जाए। साथ ही आवश्यक उपकरणों की खरीद की जाए।


बैलगाड़ी का चालान,नया कीर्तिमान स्थापित

नई दिल्ली। सरकार ने नया मोटर व्हीकल एक्ट क्या पास किया लोगों की जान को आफत खड़ी हो गई। पुलिस ने इस कानून का इस्तेमाल लोगों में खौफ पैदा करने के लिए कर दिया।


यूपी के बिजनौर में ट्रैफिक पुलिस ने एक बैलगाड़ी का चालान कर नया कीर्तिमान बना डाला। बिजनौर के सहसपुर गांव में एक किसान अपनी बैलगाड़ी लेकर खेतों पर गया और खेत के पास बैलगाड़ी खड़ी कर दी। उसी दौरान वहां से गुजर रही पुलिस टीम ने बैलगाड़ी का चालान काट कर किसान को दे दिया।एक हजार के चालान कटने से हैरान परेशान किसान ने अपनी व्यथा लोगों से बताई। जब इलाके के लोगों ने पुलिस को बताया कि बैलगाड़ी का चालान कैसे कर दिया तो पुलिस ने चालान कैंसिल कर दिया।


सिंधिया के चेहरे पर हार की शिकन दिखी

जयपुर। पूर्व सांसद एवं कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव ज्योतिरादित्य सिंधिया हार के वाद पहली वार मुंगावली पहुँचे। उन्होंने विधानसभा के करीब आधा दर्जन से अधिक गांवो में अतिवृष्टि एवं बाढ़ से खराब हुई फसलों का निरीक्षण किया। लोकसभा चुनाव में मिली हार के बाद यह पहला मौक़ा है जब सिंधिया अपने क्षेत्र के लोगों के बीच पहुंचे थे।
इस दौरान सिंधिया के चेहरे पर हार की शिकन दिखी और दर्द भी छलका अधिक वर्षा से हुए नुकसान का जायजा लेने पहुंचे सिंधिया ने प्रशासन द्वारा किए गए प्राथमिक सर्वे को नाकामी बताते हुए। नए सिरे से खराब फसलों का आकलन करने एवं शासन से अधिक से अधिक मुआवजा दिलाने की मांग की।


फिर झलका हार का दर्द झलका


लोकसभा चुनाव में मिली हार के बाद पहली बार क्षेत्र में पहुंचे सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया के चेहरे पर हार की शिकन साफ देखने को मिली। लोगों से बातचीत करते समय उन्होंने लगातार इस बात का उल्लेख किया, कि 17 साल तक लोगों की सेवा करते रहे। फिर भी शायद उनमें कोई कमी हुई होगी । जिसके कारण यह परिणाम आए। पत्रकारों के सवालो के जवाब में उन्होंने कहा कि नये सांसद क्षेत्र में आते है या नही इससे उनको कोई मतलब नही। उन्होंने कहा कि क्षेत्र की जनता से मेरा पारिवारिक संबंध है। उनके सुख के समय भले ही ना पाऊं ,मगर दुख में मैं जरूर उनके साथ होता हूं । आगे  इस क्षेत्र में सक्रियता बनाए रखेंगे या नहीं इसका जवाब देते समय सिंधिया भावुक हो गए और कहा कि यह तो आगे वाला समय बताएगा।


मेरे परिवार के लोग परेशान हैं, इसलिए आया हूँ


मुंगावली में सिंधिया ने कहा जब कोई व्यापारी लेन देन करता है और उसमें कोई हानि हो जाये तो चोट नही लगती। क्योकि वो हानि पैसों की हानि होती है। पर मेरा और आपका रिश्ता एक सदैव मैंने तो माना था कि ह्र्दय का रिश्ता है विकास प्रगति का रिश्ता है। मैने तो जरूर माना था की एक एक जन जन के ह्रदय के अंदर मेरा रिश्ता है। सत्रह साल आपकी सेवा करने का सौभाग्य मुझको मिला। और जो सम्भव हो सका मैंने कोशिश की, सादगी के साथ, भ्र्ष्टाचार न पनपे, विकास हो प्रगति हो जन जन के साथ रिश्ता हो लेकिन कहीं न कहीं शायद उसी में मेरी कमी रह गई होगी। पिछले तीन महीने से में कई कारण बस व्यस्त रहा। दिल में पीड़ा भी है मैं और मेरा कोई राजनीतिक जिम्मेदारी भी बाकी नही रही थी। लेकिन जब मैंने सुना कि क्षेत्र में बाढ़ आई है। मेरी जनता नही परिवार के लोग परेशान है। सुख के समय में मैं आपके साथ रहूं न रहूं एक सामान्य नागरिक के रूप में क्योकि वही मरी आज हैसियत है लेकिन कोई आये न आये सिंधिया परिवार का मुखिया आपके साथ सदैव खड़ा रहेगा।


सूअर का दिल बनेगा इंसान की धड़कन

इंसान के शरीर में धड़क सकता है सूअर का दिल


मेडिकल साइंस अंग प्रत्यर्पण के लिए पूरी तरह से अंगदाताओं पर निर्भर करता है। एक जर्मन सर्जन ने सूअर के दिल को लंगूर में सफलतापूर्वक प्रत्यर्पित कर जल्द ही सुअरों का दिल इंसानों में धड़काने की संभावना भी जगा दी है।जर्मन सर्जन ब्रूनो राइषार्ट ने लंगूर के शरीर में सूअर के दिल का सफलतापूर्वक प्रत्यर्पण किया है। अब यह उम्मीद जतायी जा रही है कि ऐसा प्रयोग इंसान के साथ भी आजमाया जाएगा। इंसान के शरीर में सूअर का दिल धड़कने की कितनी संभावना है, इस पर जर्मन चिकित्सक राइषार्ट से डॉयचे वेले की खास बातचीत के अंश. डॉयचे वेले: पहली बार लंगूर के शरीर में सूअर के दिल का प्रत्यर्पण उम्मीद जगाता है कि यह इंसान के साथ भी संभव हो सकेगा। सवाल है कि जानवरों में सूअर को ही डोनर के रूप में क्यों चुना गया? ब्रूनो राइषार्ट: यहां नैतिकता अहम है। हम सुअरों को लंबे समय से खा रहे हैं। इन्हें मारने को लेकर समाज में स्वीकार्यता भी है। एक सूअर हर चार महीने में बच्चे पैदा करने की स्थिति में होता है। इतना ही नहीं जन्म के छह महीने बाद ही सूअर प्रजनन के लिए पूरी तरह तैयार हो जाते हैं।वहीं सूअर का दिल इंसान के दिल से काफी मिलता-जुलता है। वैसे भी पिछले 40 सालों से इंसानों के शरीर में सूअर के हृदय के वॉल्व का इस्तेमाल तो हो ही रहा है।


इस प्रक्रिया अंग लेने वाले के रूप में लंगूर को ही क्यों चुना गया? ये प्रशासन की मांग थी। उनका कहना था कि प्रत्यर्पण सूअर या कुत्ते के शरीर में नहीं किया जाना चाहिए। इसके बजाय किसी ऐसे को चुना जाना चाहिए जो जैविक रूप से इंसानों के करीब हो ताकि यह समझा जा सके कि इस तरह की प्रक्रिया इंसानों के साथ कितनी सफल होगी।


क्या इस प्रक्रिया में किसी भी साधारण सूअर को बतौर डोनर चुना जा सकता है? सूअर का दिल इंसान स्वीकार करें, इसके लिए पहले डोनर के अंग को इसके अनुकूल बनाना होगा। यही कारण है कि प्रत्यर्पण से पहले सूअर के दिल में अनुवांशिक रूप से बदलाव किया जाता है। इस तरह के प्रत्यर्पण से क्या फायदा होगा?सबसे बड़ी बात तो यह है कि इससे अंगदाताओं की भारी कमी की समस्या में लाभ मिलेगा। क्या इसे सफलता का क्षण कहा जा सकता है? कुछ और भी सफलताएं मिलनी चाहिए. मुझे डर भी है।दरअसल अब हमें पैसा चाहिए, क्योंकि इस तरह के प्रयोग महंगे हैं. हमें निवेशक चाहिए, और यूरोप में निवेशक खोज पाना बहुत मुश्किल है। जर्मन रिसर्च फाउंडेशन ने अब तक काफी वित्तीय सहायता दी है। लेकिन आगे की पायलट स्टडी के लिए हमें अतिरिक्त धन, साधन के साथ-साथ अस्पताल भी चाहिए।आपको कैसे इतना भरोसा है कि यह काम करेगा? आपको हमेशा खुद को अज्ञात चीजों की ओर ले जाना होता है. ऐसी आशंकाएं कम हैं कि यह काम नहीं करेगा। ब्रूनो राइषार्ट जर्मनी के जाने-माने ह्दय प्रत्यर्पण विशेषज्ञों में से एक हैं।


विराट रेटिंग में दूसरे स्थान पर बरकरार

भारतीय कप्तान विराट कोहली सोमवार को जारी आईसीसी टेस्ट बल्लेबाजों की नवीनतम रैंकिंग में आस्ट्रेलिया के स्टीव स्मिथ के बाद दूसरे स्थान बरकरार हैं। कोहली के नाम 903 रेटिंग अंक हैं जबकि स्मिथ उनसे 34 अंक आगे 937 अंक के साथ शीर्ष पर हैं। आस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान स्मिथ के अलावा टीम के उनके साथी तेज गेंदबाज पैट कमिंस भी आईसीसी टेस्ट गेंदबाजी रैंकिंग में शीर्ष स्थान पर कायम हैं। स्मिथ और कमिंस के शानदार प्रदर्शन के दम पर आस्ट्रेलिया एशेज खिताब को अपने पास रखने में सफल रहा। इंग्लैंड ने रविवार को पांचवां और अंतिम मुकाबला जीताकर श्रृंखला को 2-2 से बराबर किया लेकिन ट्राफी को आस्ट्रेलिया के पास जाने से नहीं रोक सके।


इस मैच में स्मिथ ने 80 और 23 रन की पारी खेली जिससे वह अपने 937 रेटिंग अंक को बरकरार रखने में सफल रहे। इस श्रृंखला के शुरू होने से पहले उनके नाम 857 रेटिंग अंक थे जिससे वह चौथे पायदान पर थे। उन्होंने श्रृंखला के चार मैचों में 774 रन बनाये। कमिंस भी दूसरे पायदान पर काबिज कागिसो रबाडा पर 57 अंक की बड़ी बढ़त कायम किये हुए हैं। वह एशेज श्रृंखला में 29 विकेट के साथ सबसे सफल गेंदबाज रहे। भारत के जसप्रीत बुमराह रैंकिंग में तीसरे पायदान पर हैं। ऑस्ट्रेलिया के मैथ्यू वेड और मिशेल मार्श भी रैंकिंग में सुधार करने वाले खिलाड़ियों में शामिल रहे। वेड ने रविवार को अपना चौथा टेस्ट शतक लगाया जिससे वह 32 स्थान के सुधार के साथ 78वें पायदान पर पहुंच गये। पहली बार पांच विकेट लेने वाले मिशेल मार्श भी 20 स्थानों के सुधार के साथ 54वें स्थान पर पहुंच गये। मार्च 2017 के बाद यह उनकी सर्वश्रेष्ठ रैंकिंग है।
डेविड वार्नर को सात स्थानों का नुकसान हुआ है जो अब 24वें पायदान पर हैं। वार्नर ने पांच मैचों की 10 परियों में कुल 95 रन बनाये जिससे श्रृंखला के दौरान उनकी रैंकिंग में 19 स्थानों की गिरावट आयी। इंग्लैंड के तेज गेंदबाज जोफ्रा आर्चर पहली बार शीर्ष 40 में जगह बनाने में सफल रहे। उन्होंने पांचवें टेस्ट में छह विकेट लिये थे। सैम कुरेन ने भी छह स्थानों का सुधार किया और 65वें पायदान पर पहुंच गये। मैच में 70 और 47 रन की दमदार पारी खेलने वाले जोस बटलर इस साल जनवरी के बाद पहली बार शीर्ष 30 में पहुंचने में सफल रहे। टेस्ट में करियर की सर्वश्रेष्ठ 94 रन की पारी खेलने वाले जो डेनली करियर के सर्वश्रेष्ठ 57वें पायदान पर पहुंच गये। रोरी बर्न्स भी पांच स्थानों के सुधार के साथ 56वें पायदान पर काबिज हैं।


ऑस्ट्रेलिया को हरा इंग्लैंड में जीती सीरीज

एशेज सीरीज के पांचवें और आखिरी मुकाबले में इंग्‍लैंड ने ऑस्‍ट्रेलिया पर जीत दर्ज कर सीरीज को 2-2 से बराबरी पर खत्‍म किया। हालांकि इस जीत के बावजूद आईसीसी की ताजा टेस्‍ट रैंकिंग में ऑस्‍ट्रेलियाई खिलाड़ियों का दबदबा ही देखने को मिला। ताजा रैंकिंग में स्‍टीव स्मिथ सर्वश्रेष्‍ठ टेस्‍ट बल्‍लेबाज और पैट कमिंस सर्वश्रेष्‍ठ टेस्‍ट गेंदबाज है।'कुलदीप और लेेग स्पिनर युजवेंद्र चहल की अनदेखी जल्दबाजी होगी'ओवल टेस्‍ट की पहली पारी में स्मिथ ने 80 रन का योगदान दिया। हालांकि दूसरी पारी में वो 23 रन ही बना पाए। भारतीय कप्‍तान विराट कोहली ने विंडीज के खिलाफ दो मैचों की टेस्‍ट सीरीज के बाद से कोई नया मुकाबला नहीं खेला है। दूसरे स्‍थान पर मौजूद भारतीय कप्‍तान से स्‍टीव स्मिथ 34 प्‍वाइंट आगे हैं।


बांग्लादेश ने बल्लेबाज सौम्य सरकार को टीम से किया बाहर


पैट कमिंस भी गेंदबाजों की रैंकिंग में दूसरे स्‍थान पर मौजूद दक्षिण अफ्रीकी गेंदबाज कगीसो रबाडा से 57 प्‍वाइंट आगे हैं।ओवल टेस्‍ट की दूसरी पारी में शतक जड़ने वाले मैथ्‍यू वेड 32 पायदान की छलांग लगाते हुए अब 78वें स्‍थान पर आ गए हैं। पांच विकेट हॉल लेने वाले मिशेल मार्श 20 स्‍थान ऊपर आते हुए अब गेंदबाजों की रैंकिंग में 54वें स्‍थान पर पहुंच गए हैं। साल 2017 के बाद से यह उनकी सर्वश्रेष्‍ठ रैंकिंग है।रिकी पोंटिंग बोले- एशेज सीरीज में ऑस्‍ट्रेलियाई टीम इंग्‍लैंड पर पड़ी भारी।पहली पारी में छह विकेट लेने वाले इंग्लिश गेंदबाज जोफ्रा आर्चर टॉप 40 टेस्‍ट गेंदबाजों में जगह बनाने में कामयाब रहे। इसी तरह पहली पारी में 70 और दूसरी पारी में 47 रन बनाने वाले जोस बटलर टॉप 30 टेस्‍ट बल्‍लेबाजों में शुमार हो गए हैं।


 


देशभक्त मुस्लिम भाजपा को वोट देता है

बेंगलुरु। कर्नाटक के ग्रामीण विकास और पंचायती राज मंत्री केएस ईश्वरप्पा के एक बयान से बवाल मच गया है। श्री राम सेना के एक कार्यक्रम में केएस ईश्वरप्पा ने कहा कि राष्ट्र भक्त भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) को वोट देंगे जबकि पाकिस्तान समर्थक मुस्लिम भगवा पार्टी को वोट देने में संकोच करेंगे। श्री राम सेना के समर्थकों को संबोधित करते हुए कर्नाटक के मंत्री ने कहा, 'बीजेपी सरकार के सत्ता में आने से पहले, मैं कांग्रेस के कुछ विधायकों से मिला जिन्होंने बीजेपी में आने की इच्छा व्यक्त की थी। लेकिन उन कांग्रेसी नेताओं का कहना था कि उनके निर्वाचन क्षेत्रों में 50,000 से अधिक मुस्लिम वोट हैं और बीजेपी ज्वॉइन करने पर उन्हें हार का सामना करना पड़ सकता है।'केएस ईश्वरप्पा ने कहा कि उन्होंने कांग्रेस नेताओं से कहा, 'मेरे निर्वाचन क्षेत्र में मेरे समुदाय कुरुबा का वोट लगभग 8,000-10,000 है और 50,000 से अधिक मुस्लिम वोट है। मैं आज तक वोट के लिए किसी मुस्लिम को सलाम करने नहीं गया और मैंने 47,000 से अधिक मतों से जीत हासिल की है।' केएस ईश्वरप्पा ने कहा कि जो देशभक्त मुस्लिम हैं वो बीजेपी को वोट देते हैं, लेकिन पाकिस्तान समर्थक और एंटी-नेशनल मुस्लिम बीजेपी को वोट नहीं करते हैं।


बता दें कि बीजेपी के वरिष्ठ नेता डिप्टी सीएम भी रहे हैं और इस तरह के विवादित बयान देने के लिए जाने जाते हैं। 2018 में विधानसभा चुनाव से पहले उन्होंने कहा था कि बीजेपी कर्नाटक में मुसलमानों को टिकट नहीं देगी क्योंकि उन्हें बीजेपी में विश्वास नहीं है। वहीं कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने केएस ईश्वरप्पा के बयान पर टिप्पणी देने से इनकार कर दिया और कहा कि मैं इस पर प्रतिक्रिया नहीं दूंगा। ईश्वरप्पा जैसे लोग क्या बोलते हैं, उस पर मैंने प्रतिक्रिया देनी बंद कर दी है।लेकिन कांग्रेस के प्रवक्ता ब्रृजेश कलप्पा ने आजतक से कहा कि ईश्वरप्पा प्रधानमंत्री मोदी का सम्मान नहीं करते हैं। पीएम मोदी कहते हैं कि सबका साथ सबका विकास। इसका मतलब है कि ईश्वरप्पा पीएम मोदी का थोड़ा भी सम्मान नहीं करते हैं।


डेंगू रोकथाम में केंद्र करें सहयोग:सीएम

डेंगू के खिलाफ लड़ाई में केंद्र भी साथ दे : केजरीवाल


नई दिल्ली। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सोमवार को केंद्रीय स्वास्थ्य व परिवार कल्याण मंत्री हर्ष वर्धन को पत्र लिखकर केंद्र सरकार से डेंगू के खिलाफ जागरूकता अभियान -'10 हफ्ते 10 बजे 10 मिनट' में भाग लेने का आग्रह किया, जिससे राष्ट्रीय राजधानी में वेक्टर जनित बीमारी से रोकथाम सुनिश्चित किया जा सके। इस पत्र में मुख्यमंत्री ने कहा है कि दिल्ली सरकार ने एक सितंबर से बड़े स्तर पर लोगों को जागरूक करने के लिए अभियान शुरू किया है, जिससे लोगों को उनके घर व आसपास में मच्छर पैदा होने वाले जगहों को लेकर जागरूक किया जा सके।


केजरीवाल ने लिखा है कि इस अभियान के तहत पूरे शहर के नागरिकों हर रविवार अगले दस हफ्तों तक 10 मिनट, दस बजे अपने घरों व आसपास की निगरानी करने की अपील की गई है जिससे यह सुनिश्चित हो सके कि कही ठहरा हुआ साफ पानी नहीं रूका हो, जहां एडीज मच्छर पैदा हो सकते हैं।
उन्होंने कहा, “मैंने यह अभियान अपने घर से रविवार को शुरू किया और ऐसा ही मेरे मंत्रिमंडल के सहयोगियों, विधायकों, पार्षदों व दिल्ली सरकार के अधिकारियों ने किया। हम इस अभियान को अगले 10 रविवार तक 15 नवंबर तक जारी रखेंगे, क्योंकि किसी तरह के मच्छरों को पैदा हो से रोकना डेंगू व चिकनगुनिया पर नियंत्रण का सबसे प्रभावी तरीका है।”केंद्रीय स्वास्थ मंत्री को आमंत्रित करते हुए केजरीवाल ने कहा, “मैं आपकों व सभी केंद्र सरकार के मंत्रियों को अभियान में भाग लेने के लिए आमंत्रित करता हूं। आपकी भागीदार बहुत से दूसरे लोगों को भाग लेने के लिए प्रेरित करेगी।”उन्होंने सूचित किया कि दिल्ली सरकार ने अपने सभी कर्मचारियों को अभियान में भाग लेने के लिए निर्देश दिया है।


ट्रंप की चेतावनी, हमले के लिए तैयार

न्यूयॉर्क। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने चेतावनी दी है कि सऊदी अरब की तेल कंपनी पर किए गए ड्रोन हमले का जवाब देने के लिए उनका देश पूरी तरह से तैयार है। गौरतलब है कि ट्रंप के इस बयान से एक दिन पहले अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ ने हमलों के लिए ईरान को जिम्मेदार बताया था। इस हमले के कारण तेल की कीमत में तेजी से वृद्धि हुई। खाड़ी युद्ध के बाद तेल कीमतों में इतना उछाल पहली बार देखा गया है।


शनिवार को हुए इन हमलों में सऊदी अरब की सरकारी तेल कंपनी अरामको के अब्कैक स्थित सबसे बड़े तेल शोधन संयंत्र और खुरैस स्थित तेल क्षेत्र को निशाना बनाया गया। ईरान ने इन हमलों में किसी भी प्रकार की संलिप्तता से इंकार किया है। इसकी जिम्मेदारी यमन में सक्रिय ईरान से जुड़े हुती विद्रोहियों ने ली है।


जनसंख्या नियंत्रण का हो समाधान

भारत की जनता की मांग जनसँख्या नियंत्रण का हो समाधान                           


गाजियाबाद,लोनी। विधानसभा की पूजा कालोनी स्‍थित पूजा बाल विधा मंदिर में देश के यशस्वी प्रधानमंत्री आदरणीय नरेन्द्र मोदी के जन्मदिवस सेवा सप्ताह के अवसर पर बच्चो को फल वितरित कर मनाया। इस अवसर पर बोलते हुए भाजपा के फायर ब्रांड नेता और सहयोग द हेल्पिंग संस्था के संस्थापक राष्ट्रीय अध्यक्ष विजेन्द्र त्यागी ने बताया कि देश के यशस्वी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी के जन्मदिन के अवसर पर सहयोग संस्था की टीम ने संकल्प लिया कि जब तक देश मे  जनसंख्या नियंत्रण कानून लागू नही किया जाएगा, तब तक देश के अलग प्रान्त ओर जिलों में जाकर सहयोग संस्था द्वारा जनसँख्या समाधान चोपाल लगाकर आम जनमानस को जागरूक कर,हस्ताक्षर अभियान चलाया जाएगा। भाजपा जिला उपाध्यक्ष ने स्वच्छता,वृक्ष रोपण बारे में विस्तार से बताया और संकल्प लिया कि अपने आस-पास स्वच्छता रखे, पेड़ लगाने का संकल्प लिया। इस अवसर पर भाजपा जिला उपाध्यक्ष चोधरी चयनपाल सिंह ,पूर्व जिला मंत्री ओमप्रकाश तिवारी ,पूर्व सभासद अमरेश चोधरी ,स्कूल प्रबंधक विनोद माहेश्वरी ,संध्या माहेश्वरी ,समेत अनेको शिक्षक और आस पास के क्षेत्रवासी उपस्थित रहे।


संस्था ने चलाया स्वच्छता जागरूक अभियान

स्‍वदेशी फाउंडेशन संस्था ने नोली रेलवे स्टेशन पर चलाया स्वच्छता को लेकर जागरूकता अभियान।


गाजियाबाद,लोनी। स्वदेशी फाउंडेशन संस्था के प्रदेश अध्यक्ष अमित याना को नोली रेलवे स्टेशन अधीक्षक राजकुमार द्वारा निमंत्रण पत्र भेजकर प्रस्ताव रखा गया कि नोली रेलवे स्टेशन पर एक जागरूकता अभियान स्वच्छता को लेकर चलाना है। जिसमें हमें आपकी एनजीओ स्वदेशी फाउंडेशन संस्था की सहायता की आवश्यकता है।
संस्था के सभी सदस्यों व पदाधिकारियों  ने वहां पहुंचकर स्टेशन परिसर पर मौजूद समस्त यात्री गणों को एनजीओ के माध्यम से बताया कि गंदगी फैलाना किस तरह आपके लिए हानिकारक साबित हो सकता है, और स्वच्छता से आपको क्या-क्या लाभ मिल सकते हैं। स्वदेशी फाउंडेशन संस्था व रेलवे स्टेशन अधीक्षक राजकुमार द्वारा पूर्ण स्टाफ, सफाई कर्मचारियों व यात्रीगणों को शपथ दिलाई कि मैं शपथ लेता हूं कि मैं स्वयं स्वच्छता के प्रति सजग रहूंगा और उसके लिए समय दूंगा। मैं ना गंदगी फैलाऊंगा और ना किसी को फैलाने दूंगा।


महात्मा गांधी ने गुलामी की जंजीरों को तोड़ कर मां भारती को आजाद कराया है। अब हमारा कर्तव्य है कि गंदगी को दूर करके भारत माता की सेवा करें।
सबसे पहले मैं स्वयं से, मेरे परिवार से, मेरे मोहल्ले से, मेरे गांव से, एवं मेरे कार्य स्थल से इसकी शुरुआत करूंगा।
मुझे मालूम है कि स्वच्छता की तरफ बढ़ाया गया मेरा एक कदम पूरे भारत देश को स्वच्छ बनाने में मदद करेगा।
मैं यह भी संकल्प लेता हूं कि मैं एकल उपयोगी प्लास्टिक वस्तुओं का उपयोग नहीं करूंगा जो जायज प्लास्टिक का मैं उपयोग करता हूं। उसका मैं पुुन: उपयोग या पुन:चक्रण करूंगाा। मैं दूसरों को भी शिक्षित करूंगा, जिससे प्लास्टिक प्रदूषण एक अतीत की चीज बन जाए। ,मैं सतत प्रयास करूंगा कि हमारे आवासीय परिसर, रेलवे परिसर, व अन्य सार्वजनिक क्षेत्र प्लास्टिक मुक्त बन जाए।
इस विचार के साथ में गांव-गांव, गली-गली, स्वच्छ भारत मिशन एवं एकल उपयोगी प्लास्टिक वस्तुओं का उपयोग नहीं करने का प्रचार करूंगा! जिससे हमारी वर्तमान और आने वाली पीढ़ियों को एक बेहतर वातावरण मिल सके।"


स्वच्छता को लेकर इस विशेष जागरूकता अभियान मे स्वदेशी फाउंडेशन संस्था के प्रदेश महासचिव राहुल तिसावर, मेरठ मंडल संयोजक विशाल जीनवाल, जिला संयोजक भोपाल सिंह, जिला उपाध्यक्ष गौरव गोस्वामी, जिला प्रवक्ता भी मीडिया प्रभारी पंडित अभिषेक शर्मा, जिला सचिव दिवाकर ओझा, संगठन मंत्री मोहर सिंह, ब्लॉक सचिव मनीष पहलवान, अरुण सूद, प्रशांत, सागर नोली स्टेशन अधीक्षक राजकुमार सहित स्टेशन के सभी कर्मचारी व हजारों की संख्या में यात्रीगण आदि मौजूद रहे।


मंदी के दौर में मुसीबतें कम की:केजरीवाल

मंदी के दौर में हमने दिल्लीवालों की मुसीबतें कम की
मुख्यमंत्री ने कहा, मैं खुद एक व्यापारी परिवार से आता हूं इसलिए व्यापारी की व्यथा, दर्द, समस्याओं को अच्छी तरह समझ सकता हूं।


नई दिल्ली। मंदी के इस दौर में हमारी सरकार ने दिल्लीवालों को काफी सुविधाएं दी हैं, इसलिए उन्हें कुछ कम दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। हम सब चाहते हैं कि देश की अर्थव्यवस्था सुधरे। दिल्ली की अर्थव्यवस्था सुधरे। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने चैंबर ऑफ ट्रेड एंड इंडस्ट्रीज (CTI) की तरफ से आयोजित एक सम्मान समारोह में ये बातें कहीं। इस मौके पर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली के 36 व्यापारियों को 'नवरत्न पुरस्कार' दिए  व्यापारियों को सम्मानित भी किया। MDH के महाशय धर्मपाल गुलाटी भी सम्मानित व्यापारियों को आशीर्वाद देते हुए दिखें। नवरत्न पुरस्कार देते हुए मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सभी व्यापारियों को बधाई दी और कहा व्यापारी ही दिल्ली की अर्थव्यवस्था की रीड की हड्डी है। व्यापारियों को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि कारोबार मंदा है। सैलरी बढ़ नहीं रही। खर्चे बढ़ते जा रहे हैं। लेकिन हमारी सरकार ने दिल्लीवालों को काफी सुविधाएं दी हैं, इसलिए लोगों को थोड़ी कम दिक्कत हो रही है। जैसे, हमने बिजली के बिल 200 यूनिट तक माफ कर दिये। पानी फ्री कर दिया। पानी के पुराने बिल माफ कर दिया। अब महिलाओं के लिए बस में सफर भी फ्री हो जाएगा। मुख्यमंत्री श्री केजरीवाल ने कहा अभी बहुत ज्यादा मंदी का दौर है। आज भी मैं कई व्यापारियों से मिला हूं। वह कह रहे थे कि 30 से 40 फीसदी तक कारोबार डाउन हो गया है। मैं उम्मीद करता हूं कि जल्दी अर्थव्यवस्था सुधरेगी। व्यापारियों का व्यापार भी सुधरेगा। हम केंद्र सरकार से अपील करते हैं कि जो भी कदम उठाने की जरूरत है, वो सभी कदम उठाए।


पाक रेल मंत्री का कॉलर पकड़ मांगे पैसे

इस्लामाबाद। पाकिस्तान के रेल मंत्री का नया वीडियो इन दिनों सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है। इस वायरल वीडियो में कार का पैसा न चुकाने पर उनकी किसी शख्स के साथ जमकर बहस हो रही है। सोशल मीडिया पर वायरल इस विडियो में साफ तौर पर दिखा रहा है की नूर रहमान नाम का शख्स शेख राशिद अहमद से पैसे की मांग रहा है। इस दौरान मीडिया के लोग भी वहां मौजूद हैं जिसके चलते यह पूरी घटना कैमरों में कैद हो गई।


मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो सोशल मीडिया पर वायरल होती वीडियो पाकिस्तान के पार्लियमेंट हाउस की है, जहाँ पर पाक मंत्री एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर रहे थे।वहीं इधर राशिद के इस वीडियो पर भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने  पाकिस्तान पर निशाना साधा है। भाजपा प्रवक्ता ने वीडियो के साथ ट्वीट करते हुए कैप्शन में लिखा की कि ये है पाकिस्तान की हालत! पाकिस्तान के रेल मंत्री (शेख रशीद अहमद)जिनको कुछ दिन पहले करेंट लगा था, उन्होंने कार का पैसा नहीं चुकाया है। जिससे पैसे लिए थे वो पाकिस्तान के पार्लियामेंट में आकर मंत्री जी को घेर लेता है। इसके साथ ही संबित पात्रा ने पाकिस्तान पर परमाणु हमले की धमकी देने पर तीखा कटाक्ष किया।


बता दें कि कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 को रद्द किए जाने के बाद से पाकिस्तान बौखलाया हुआ है। एक तरफ पाकिस्तान जहां अंतरराष्ट्रीय मंचों पर जाकर युद्ध की धमकी दे रहा है वहीं पाकिस्तान सरकार के मंत्री भी गीदड़भभकी देने से बाज नहीं आ रहे हैं। गौरतलब है कि ये पहला मामला नहीं है जब पाक मंत्री राशिद खान को शर्मिंदगी का सामना करना पड़ा हो। इससे पहले भी वो एक रैली में भारत के खिलाफ़ उलटा-सीधा बोल रहे थे कि तभी उन्हें करंट ने जोरदार झटका मारा था। उस समय उन्होंने खुद को हँसी का पात्र बनता देख बोला था कि मोदी करंट लगवाकर मुझे बोलने से नहीं रोक सकते हैं। इसके अलावा इससे पहले राशिद खान भारत पर पाव, सवा पाव वजनी परमाणु बमों से हमला करने की बात कही थी।जिसकी वजह से भी उनका पूरी दूनिया में मजाक उड़ा था।


प्रेमी जोड़े के साथ बर्बरता,पेशाब पिलाया

नागौर। ये इंसानियत को शर्मसार कर देने वाली घटना राजस्थान के नागौर जिले से सामने आयी है। जहाँ एक प्रेमी जोड़े के साथ बर्बरता के कुछ वीडियो सोशल मीडिया पर तेज़ी से वायरल हो रहे हैं।


जानकारी के लिए बताते चले सोशल मीडिया पर वायरल इन वीडियो में एक महिला की बेरहमी से लोग पिटाई कर रहे है। इतना ही नहीं फिर लोग उसके बाल भी काट देते हैं। इसी तरह के अन्य वीडियो में एक पुरुष के साथ लोगो द्वारा मारपीट की जा रही है, मुंह काला करने, उसके बाल काटने और पेशाब पिलाते दिखाया जा रहा है। इस शर्मनाक घटनाक्रम के कई वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे हैं। इन वीडियो में कुछ महिला और पुरुष तमाशबिन बनकर देखते भी नजर आ रहे हैं। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक ये वीडियो नागौर के लाडनूं तहसील के निंबी जोधा क्षेत्र के बताए जा रहे हैं।


नाजायज संबंधों के चलते पार की सारी हदें


मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक बताते चले यहाँ कुछ लोगो ने एक पुरुष और महिला को नाजायज संबंध बनाते हुए पकड़ लिया था। इसके बाद वहां के लोगों ने दोनों को मौके पर बैठा लिया। दोनों को सबक सिखाने की लोगो ने  पहले इन दोनों के बाल काट दिए गए और पुरुष का मुंह काला कर दिया गया। इसके बाद उसे एक बोतल से पेशाब जबरन पिलाया। वहीं महिला के साथ मारपीट भी की गई। वीडियो में यह भी नजर आ रहा है कि इस दौरान वहा खड़े महिला और पुरुष तमाशा देख रहे हैं।


जनता को चाहिए हाईकोर्ट की बेंच,एयरपोर्ट

मेरठ। मेरठ की जनता मेरठ शहर के साथ-साथ पश्चिम क्षेत्र की जनता की कुछ समस्याएं और उम्मीद है और लंबे समय से लंबित हैं उन्हें पूरा करने के लिए जनता दर-दर की ठोकरें खा रही है। जनप्रतिनिधि सांसद मेरठ हापुर लोकसभा राजेंद्र अग्रवाल पूर्व प्रदेश अध्यक्ष डॉक्टर लक्ष्मीकांत वाजपेई, डॉक्टर सोमेंद्र तोमर, दिनेश खटीक, कैंट विधायक सत्य प्रकाश अग्रवाल सभी जनप्रतिनिधियो ने मेरठ मंडल के कई अधिकारियों ने कई बार मेरठ उड़ान के लिए माननीय मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मिले, उड्‍यन मंत्री से भी मिले। कई बार कंपनी की बीड डाली गई। कई बार ऐसा लगा कि मेरठ से प्रयागराज और लखनऊ की उड़ानें भरी जाएंगी। मगर जनता की उम्मीदों पर पानी फिरता नजर आ रहा है। मेरठ 1857 क्रांति धरा का ऐसा जिला है कि यहां पर अभी तक कोई ऐसा कार्य नहीं हुआ। जिससे कि मेरठ का नाम रोशन हो मेरठ का यह सपना आखिर सच होगा या नहीं मेरठ के बाद जेवर का काम शुरू हो गया और उसे लेकर प्रदेश सरकार की गंभीरता भी दिखती है। लेकिन मेरठ के मामले में ऐसा कुछ नहीं दिखता मेरठ के विकास की आपने चिंता जताई लिया जाए जनता की एक बड़ी मांग से अवगत कराना हमारा मीडिया का फर्ज है। मेरठ की जनता महामहिम राज्यपाल उत्तर प्रदेश के मुख्य मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से निवेदन करती है कि यहां पर उड़ान शीघ्र चालू किया जाए जिससे कि जाम से छुटकारा मिले।


आठ एटीएम चोरो को किया गिरफ्तार

रुद्रपुर (महानाद)। पुलिस ने एटीएम से नोट चुराने वाले 8 लोगों को गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की है।


आपको बता दें कि प्रभारी निरीक्षक रुद्रपुर द्वारा थाना क्षेत्र में अभियान के तहत संदिग्ध व्यक्तियों की चैकिंग हेतु पुलिस टीम को थाना क्षेत्र में गस्त हेतु भेजा गया था, इसी क्रम में रविवार को पुलिस टीम द्वारा ब्लाॅक रोड पर कार संख्या यूपी 44 एएफ 8338 से पाँच संदिग्ध व्यक्तियों को गिरफ्तार किया गया।


पूछताछ पर उनके पास से विभिन्न बैंकों के अत्यधिक संख्या में एटीएम कार्ड तथा रूपये बरामद हुये। सख्ती से पूछताछ पर उनके द्वारा बताया गया कि वह लोग थाना चकेरी जनपद कानपुर से अपने अन्य साथियों के साथ यहाँ आये है तथा एटीएम मशीनों को हैक करके उनमें रखे रूपये निकाल लेते है । पाँचों अभियुक्तगणों द्वारा बताया गया कि उनके अन्य तीन साथी एटीएम मशीन से पैसा निकालने गये हैं, जिनकों पुलिस पार्टी द्वारा फ्लाई ओवर काशीपुर रोड के नीचे से 02 मोटरसाईकिलों सहित गिरफ्तार किया गया। उनके पास से भी अत्यधिक मात्रा में एटीएम कार्ड एवं रुपये बरामद हये।


विस्तृत पूछताछ पर अभियुक्तगणों द्वारा बताया गया कि वह कानपुर से अपने रिश्तेदारों तथा दोस्तों से उनके एटीएम कार्ड 3,000 रूपये में किराये पर लाते हैं तथा यहा पुरानी एटीएम मशीनों में जाकर उसमें से पैसा निकालने की प्रक्रिया करते हैं, जैसे ही मशीन से पैसा निकलना शुरू होता है उसी समय तीन बीप की आवाज के बाद यह cancil बटन दबा देते हैं तथा नोट निकलने वाले स्थान के मुँह में हाथ फंसा देते है जिससे पैसा तो बाहर आ जाता है परन्तु लेन – देन आहरण रद्द हो जाता है । इस प्रक्रिया में पैसा खाते में debit हो जाता है फिर इनके द्वारा complaint करके पैसा वापस अपने account में credit करा लिया जाता है। जिससे यह एक बारी में करीब 10, 000/- रूपये एटीएम मशीन से एक साथ निकाल लेते हैं ।


पूछताछ पर इनके द्वारा यह बात भी बतायी गयी कि पिछले 15 दिनों में इनके द्वारा एटीएम मशीन से करीब एक करोड़ रूपया निकाला जा चुका है । गहन पूछताछ करने पर अभियुक्तगणों द्वारा बताया गया कि अपने रिश्तेदारों तथा दोस्तों को कुछ पैसों का लालच देकर उनके बैंकों के एटीएम कार्ड से बैंकों की एटीएम मशीनों को हैक करके भिन्न भिन्न बैकों को आर्थिक क्षति पहुँच। कर अपने महंगे महंगे शौक पूरे किये जाते हैं ।


इन सभी आठो अभियुक्तों के विरूद्ध थाना रुद्रपुर में एफआईआर नं. 491/19 धारा 420/380/411 भादवि व 41/102 सीआरपीसी बनाम किशन आदि पंजीकृत किया गया है । अभियुक्तगणों की गिरफ्तारी से आम जनमानस में पुलिस के प्रति असीम विश्वास पैदा हुआ है तथा पुलिस उपमहानिरीक्षक कुमायूँ परिक्षेत्र जगतराम जोशी द्वारा 5, 000/- तथा वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक बरिन्दरजीत सिंह द्वारा 2, 500/- रूपये के नकद पुरूष्कार से पुरूष्कृत किया गया है।


पकड़े गये अभियुक्तगणों के नाम –
1 – किशन कश्यप पुत्र लालमन कश्यप निवासी न्यू विमान नगर, थाना चकेरी, जनपद कानपुर ( उम्र – 24 वर्ष )
2 – राहुल कनौजिया पुत्र कमलेश कनौजिया निवासी 351 रामादेवी चैराहा, थाना चकेरी जनपद, कानपुर ( उम्र – 21 वर्ष )
3 – जीतू यादव उर्फ आनन्द यादव पुत्र सिघू स्वरूप यादव निवासी रामादेवी, टटियन जनाका, थाना चकेरी कानपुर ( उम्र – 22वर्ष) 4 – रवि कुमार पुत्र पुत्र स्व0 सुरेश कुमार निवासी अमलीपुर थाना चकेरी जनपद कानपुर ( उम्र – 19 वर्ष )
5 – आशीष उर्फ अमन पुत्र कृष्ण कुमार निवासी 195 सेंगर चैराहा , श्यामनगर, थाना चकेरी कानपुर (उम्र – 27 वर्ष )
6 – रोहित पुत्र शंकर निवासी फ्रैन्ड कालोनी, दुर्गानगर, थाना चकेरी कानपुर ( उम्र – 24 वर्ष )
7 – रविकान्त यादव पुत्र सतेन्द्र सिंह यादव निवासी न्यू विमान नगर, थाना चकेरी, जनपद कानपुर ( उम्र – 24 वर्ष)
8 – शिवम तिवारी पुत्र आनन्द तिवारी निवासी तुलसीनगर थाना चकेरी जनपद कानपुर (उम्र – 23 वर्ष )


अभियुक्तगणों से बरामदगी –
1 – भिन्न – भिन्न बैंकों के एटीएम कार्ड – 61 अदद
2 – एक कार, दो मोटर साईकिल, 1,36,000 नकद।


पुलिस टीम में प्रभारी निरीक्षक कैलाश चन्द्र भट्ट , कोतवाली रूद्रपुर, उ0नि0 विपिन चन्द्र जोशी कोतवाली रूद्रपर, ललित मोहन रावल कोतवाली रूद्रपुर, का0 कुलदीप सिंह , कोतवाली रूद्रपुर, भूपेन्द्र सिंह कोतवाली रूद्रपुर, गणेश प्रसाद पाण्डे कोतवाली रूद्रपुर, संतोष कुमार एस0ओ0जी0 रूद्रपुर शामिल थे।


भारत-अमेरिका के बीच विशेष मित्रता

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने 22 सितंबर को टेक्सास के ह्यूस्टन में होने वाले विशेष सामुदायिक कार्यक्रम 'हाउडी मोदी' में अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड जे. ट्रंप के शामिल होने के समाचार पर प्रसन्नता व्यक्त की है। प्रधानमंत्री ने कहा है कि इसमें अमेरिकी राष्ट्रपति की भागीदारी भारत और अमेरिका के बीच विशेष मित्रता का प्रतीक है। राष्ट्रपति ट्रंप के इस कार्यक्रम में हिस्सा लेने को खास संकेत बताते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि यह भारत-अमेरिका के द्विपक्षीय संबंधों की मजबूती को उजागर करता है और अमेरिकी समाज एवं अर्थव्यवस्था में भारतीय समुदाय के योगदान को मान्यता देता है।


इससे पहले सुबह, व्हाइट हाउस ने एक प्रेस वक्तव्य जारी कर डोनाल्ड ट्रंप के इस कार्यक्रम में हिस्सा लेने की पुष्टि की। इस कार्यक्रम के महत्व को बताते हुए प्रेस वक्तव्य में कहा गया है, 'यह अमेरिका और भारत के लोगों के बीच मजबूत संबंधों पर जोर देने, दुनिया के सबसे पुराने और सबसे बड़े लोकतंत्र के बीच सामरिक साझेदारी की फिर से पुष्टि करने और ऊर्जा एवं व्यापार संबंधों को प्रगाढ़ करने के तरीकों पर चर्चा करने का बड़ा अवसर होगा।'


'हाउडी मोदी – साझा सपने, उज्जवल भविष्य' एक सामुदायिक कार्यक्रम है। इसका आयोजन 22 सितंबर, रविवार को अमेरिका के टेक्सास के ह्यूस्टन स्थित एनआईजी स्टेडियम में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के लिए टेक्सास इंडिया फोरम द्वारा किया जा रहा है। इस कार्यक्रम में 50 हजार से ज्यादा लोगों के हिस्सा लेने की उम्मीद है।


मोदी की न्यूजर्सी के गवर्नर से बातचीत

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने कल नई दिल्ली में अमेरीका के न्यू जर्सी राज्य के गवर्नर श्री फिलिप डी. मर्फी की अगवानी की। गवर्नर के रूप में यह उनकी पहली भारत यात्रा है। गवर्नर मर्फी आगरा, मुम्बई, हैदराबाद और अहमदाबाद भी जायेंगे। प्रधानमंत्री श्री मोदी ने न्यू जर्सी और भारत के बीच नजदीकी व्यापारिक संबंधों को बढ़ाने तथा लोगों के बीच आदान-प्रदान को प्रोत्साहन देने के संबंध में गवर्नर मर्फी की इच्छा का स्वागत किया। प्रधानमंत्री ने उन्हें आश्वस्त किया कि भारत, न्यू जर्सी के भारतीय राज्यों के साथ रचनात्मक सहयोग को समर्थन देगा।


गवर्नर मर्फी ने प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी को अवगत कराया कि न्यू जर्सी भारत के साथ संबंधों को प्राथमिकता देता है और भारत तथा अमेरीका के बीच मजबूत साझेदारी के लिए काम करने को प्रतिबद्ध है। भारत और न्यू जर्सी के बीच समानताओं का उल्लेख करते हुए गवर्नर मर्फी ने कहा कि भारत में मौजूद विविधता तथा अनेकता में एकता का न्यू जर्सी सम्मान करता है।


प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि न्यू जर्सी राज्य में भारतीय मूल के अमेरीकियों की आबादी सबसे अधिक है और वह भारत के कारोबार और निवेश का सर्वोच्च गंतव्य है। दोनों गणमान्यों ने विज्ञान,  प्रौद्योगिकी, इंजीनियरिंग और गणित (एसटीईएम) तथा उच्च शिक्षा में सहयोग के महत्व पर सहमति व्यक्त की। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने न्यू जर्सी में भारतीय मूल के अमेरीकी समुदाय के कल्याण के लिए गवर्नर द्वारा दिखाई जाने वाली निजी रुचि की सराहना की और कहा कि यह भारत तथा अमेरीका के बीच सेतु के रूप में बहुत महत्वपूर्ण है।


कांग्रेस-राकांपा में हुआ सीटों का बंटवारा

मुंबई। महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) में सीट बंटवारे पर सहमति बन गई। दोनों पार्टियां 125-125 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारेंगी। एनसीपी चीफ शरद पवार ने कहा कि 38 सीटें छोटे दलों को भी दी जाएंगी। बता दें कि महाराष्ट्र में विधानसभा की 288 सीटें हैं। यहां अगले महीने विधानसभा चुनाव करवाए जाने की संभावना जताई जा रही है। बता दें कि पहले एनसीपी सुप्रीमो शरद पवार चाहते थे कि उनकी पार्टी ज्यादा सीटें जीतकर आए ताकि सरकार बनने की स्थिति में मुख्यमंत्री पद पर उनकी पार्टी की दावेदारी रहे। दोनों दलों ने 2014 में राज्य विधानसभा चुनाव अलग-अलग लड़े थे, तब कांग्रेस और राकांपा के बीच सीट बंटवारे पर सहमति नहीं बन पाई थी जिसके बाद पवार की पार्टी ने 15 साल पुराने गठबंधन को तोड़ लिया था। पिछले विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने 42 तो राकांपा ने 41 सीटों पर जीत दर्ज की थी। 2014 के इन चुनाव में सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरी भाजपा को 122 सीटें मिली थीं। शरद पवार ने कहा कि सीटों की संख्या तय है। अभी 5-10 सीटों की अदला-बदली के लिए कांग्रेस पार्टी से चर्चा की जा रही है। 9 सितंबर को एनसीपी चीफ शरद पवार ने कांग्रेस की कार्यकारी अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात की थी। इस दौरान विधानसभा चुनाव में सीट बंटवारे को लेकर बातचीत हुई। कुछ दिन पहले महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के अध्यक्ष राज ठाकरे ने भी सोनिया गांधी से मुलाकात की थी।


बसपा के विधायकों ने थामा कांग्रेस का दामन

नई दिल्ली। राजस्थान में बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) को बड़ा झटका लगा है। देर रात बीएसपी के सभी छह विधायक कांग्रेस में शामिल हो गए। विधानसभा अध्यक्ष ने छह विधायकों के कांग्रेस में विलय की मंजूरी दी। बीएसपी के छह विधायकों में राजेंद्र सिंह गुढ़ा, जोगेंद्र सिंह अवाना, वाजिब अली, लखन सिंह मीणा, संदीप यादव और दीपचंद शामिल हैं। राजस्थान में विधानसभा की 200 सीटें हैं और कांग्रेस के 100 विधायक हैं। अब बीएसपी विधायकों के कांग्रेस में विलय से प्रदेश की अशोक गहलोत सरकार और अधिक मजबूत और स्थिर हो जाएगी। कांग्रेस के एक नेता ने कहा, 'बीएसपी के सभी छह विधायक मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के लगातार संपर्क में थे और वे कांग्रेस के पाले में आ गए। सत्ताधारी कांग्रेस पार्टी को 13 निर्दलीय विधायकों में से 12 का बाहर से समर्थन प्राप्त है जबकि दो सीटें खाली हैं। राज्य में 2009 में भी अशोक गहलोत के पहले कार्यकाल के दौरान, बीएसपी के सभी छह विधायकों ने कांग्रेस का दामन थामा था।


ट्रायल के दौरान रुस्तम हादसे का शिकार

नई दिल्ली। रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) का एक अनमैन्ड एरियल व्हीकल (यूएवी) मंगलवार सुबह कर्नाटक में हादसे का शिकार हो गया। चित्रदुर्ग जिले के जोडीचिकेनहल्ली में सुबह 6 बजे यूएवी दुर्घटनाग्रस्त हुआ है। यह डीआरडीओ का रुस्तम 2 यूएवी है। इसका आज ट्रायल किया जा रहा था। मौके पर डीआरडीओ के आला अधिकारी पहुंच गए हैं। चैलकेरे एरोनॉटिकल टेस्ट रेंज (एटीआर) में आउटडोर परीक्षण किया जाता है। यहां डीआरडीओ की ओर से विशेष रूप से मानव रहित विमानों के लिए काम किया जाता है। क्रैश की घटना इसी रेंज के आसपास हुई है। चित्रदुर्ग के एसपी ने घटना के बारे में कहा, डीआरडीओ का रुस्तम 2 क्रैश हुआ है। इसका ट्रायल किया जा रहा था, जिसमें वह फेल हो गया और खुले इलाके में गिर गया। लोगों को इस यूएवी के बारे में कुछ जानकारी नहीं थी इसलिए इसे देखने के लिए आसपास भीड़ इकट्ठी हो गई।


अभिषेक और इलियाना दिखेंगे लीड रोल में

मुंबई। डायरेक्टर अनुराग कश्यप की फिल्म मनमर्जियां में बेहतरीन परफॉर्मेंस देने के बाद अभिषेक बच्चन एक बार फिर सिल्वर स्क्रीन पर वापसी को तैयार हैं। इस बार वह डायरेक्टर कूकी गुलाटी की अगली फिल्म में काम करते दिखाई देंगे। फिल्म में अभिषेक के साथ लीड रोल में इलियाना डिक्रूज होंगी। अभिषेक ने सोशल मीडिया पर यह जानकारी दी है कि इस फिल्म की शूटिंग शुरू हो गई है।
अभिषेक ने क्लैपबोर्ड की एक इमेज शेयर करते हुए यह जानकारी दी है। इस फिल्म के जरिए एक बार फिर रोहित शेट्टी की 'बोल बच्चन' के बाद अभिषेक और अजय देवगन साथ आ रहे हैं। इस फिल्म को अजय देवगन की कंपनी प्रड्यूस कर रही है। बता दें कि इससे पहले हमारे सहयोगी अखबार मुंबई मिरर ने बताया था कि यह फिल्म सच्ची घटनाओं पर आधारित होगी। पहले यह जानकारी सामने आई थी कि यह फिल्म साल 1990 से 2000 के बीच भारत की फाइनैंशल कंडिशन के ऊपर आधारित है। अजय को फिल्म का टॉपिक काफी पसंद आया था और तुरंत इस फिल्म को प्रड्यूस करने के लिए राजी हो गए। बताया जा रहा है कि फिल्म में इलियाना का काफी स्ट्रॉन्ग कैरक्टर है लेकिन वह अभिषेक के ऑपोजिट नहीं होंगी। अभिषेक के ऑपोजिट रोल के लिए अभी हिरोइ की तलाश की जा रही है।


किसिंग सीन के कारण छोड़ी इंशाल्लाह?

सलमान खान ने किसिंग सीन के कारण छोड़ी इंशाअल्लाह?


   मुंबई। ऐक्टर सलमान खान और डायरेक्टर संजय लीला भंसाली की फिल्म इंशाअल्लाह 2020 की ईद रिलीज होने वाली थी। फिलहाल फिल्म ठंडे बस्ते में जा चुकी है। फिल्म के ठंडे बस्ते जाने को लेकर लोग अपने-अपने अनुमान लगाने लगे। पिछले दिनों आईं कई रिपोर्ट्स के अनुसार, स्क्रिप्ट को बदलने को लेकर ऐसा हुआ है लेकिन लेटेस्ट रिपोर्ट के मुताबिक, सलमान खान ने फिल्म की लीड ऐक्ट्रेस आलिया भट्ट के साथ किसिंग सीन के कारण फिल्म को छोडऩे का फैसला किया है। एक करीबी सूत्र ने बताया कि संजय लीला भंसाली और सलमान खान ने पहले भी एक साथ काम किया है और सलमान को संजय अच्छी तरह से जानते हैं। भंसाली यह भी जानते हैं कि सलमान किसिंग सीन के लिए सहमत नहीं होंगे और इंशाअल्लाह में कोई लिप लॉक का सीन नहीं है। इन रिपोर्ट्स में सच्चाई नहीं है, इंशाअल्लाह अन्य कारणों से ठंडे बस्ते में गई है। वहीं, मुंबई मिरर की एक रिपोर्ट के अनुसार, हाल ही में संजय लीला भंसाली से रितिक रोशन ने मुलाकात की है और वह फिल्म में नजर आ सकते हैं। जल्द ही इसकी घोषणा हो सकती है।


मानसिक स्वास्थ्य की चर्चा पहले से बेहतर

मुंबई। दीपिका पादुकोण का कहना है कि मानसिक स्वास्थ्य को लेकर शुरू हुई चर्चा से स्थिति पहले से बेहतर हुई है। लेकिन अब भी इस दिशा में लंबी राह तय करनी है।'लीव, लव, लाफ फाउंडेशन की स्थापना करने वाली अदाकार राष्ट्रीय राजधानी में अपनी इस पहल की 'लेक्चर सीरीज के उद्घाटन समारोह में पहुंची थीं। इस सीरीज में मानसिक स्वास्थ्य को लेकर समाज में फैले भ्रांतियों पर चर्चा की जाएगी।


दीपिका ने पत्रकारों से कहा, ” समाज में मानसिक स्वास्थ्य को लेकर जारी चर्चा की जहां तक बात है, मुझे लगता है कि स्थिति पहले से काफी बेहतर हुई है। लेकिन निश्चित तौर पर हमें इस दिशा में और जागरूकता फैलाने के लिए अधिक कदम उठाने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि मुझे लगता है कि इस पर खुलकर चर्चा होने लगी है। इसको लेकर लोग अब उस तरह लोग झिझकते नहीं हैं, जितना पहले झिझकते थे। फिल्म 'पद्मावत की अदाकारा 2014 में 'क्लिनिकल डिप्रेशन का शिकार हुई थी और अगले साल उन्होंने इसको सार्वजनिक तौर पर स्वीकार किया था। वर्ष 2015 में ही अदाकारा ने फाउंडेशन की शुरुआत कर मानसिक स्वास्थ्य को लेकर जागरूकता फैलानी शुरू की थी। दीपिका (33) ने कहा कि 'लेक्चर सीरीज का मकसद विभिन्न क्षेत्रों के लोगों को एक साथ लाना और मानसकि स्वास्थ्य को लेकर जागरूकता फैलाना है। अदाकारा ने इस दिशा में मीडिया की भूमिका की भी सराहना की। पुलित्जर पुरस्कार विजेता लेखक एवं पद्म श्री पुरस्कार से सम्मानित सिद्धार्थ मुखर्जी ने 'लेक्चर सीरीज में पहला व्याख्यान दिया। दीपिका की बहन एवं पेशेवर गोल्फर अनीशा पादुकोण भी समारोह में मौजूद थी।


सैकड़ों गांव आए बाढ़ की चपेट में

भिंड। भारी बारिश से गांधी सागर बांध के 19 गेट खोलने से राजस्थान सीमा से लगे ग्वालियर-चंबल संभाग के जिलों में स्थिति भयावह हो गई है। श्योपुर, मुरैना और भिंड जिले में चंबल किनारे के 100 से ज्यादा गांव बाढ़ में घिर गए हैं। 23 साल बाद चंबल नदी में सोमवार को उफान आया है।


खबरों के अनुसार, मुरैना में चंबल राजघाट स्थित पुराने पुल से 5 फीट ऊपर तक पानी आ गया। सबलगढ़, जौरा, सरायछौला, अंबाह, पोरसा क्षेत्र के 50 गांव पानी से घिर गए, जबकि 30 से अधिक गांवों में 5 हजार से अधिक ग्रामीण फंसे हुए हैं।मुरैना, श्योपुर और भिंड जिले में चंबल किनारे के करीब 100 गांवों में बाढ़ से हालात बेकाबू हो गए। सेना की 3 टुकड़ियों ने रेस्क्यू कर सैकड़ों लोगों को सुरक्षित जगह पहुंचाया। श्योपुर के तीन गांव के 50 लोगों को सेना ने सुरक्षित बाहर निकाला। बाढ़ के हालात से निपटने के लिए श्योपुर और भिंड में सेना तैनात करनी पड़ी है। श्योपुर की दो प्रमुख नदियां चंबल और पार्वती खतरे के निशान पर बह रही हैं।


पार्वती के उफान में 7 दिन से श्योपुर को कोटा से जोड़ने वाला खातौली पुल और तीन दिन से बारा-मांगरौल को जोड़ने वाला कुहांजापुर पुल डूबा हुआ है। अटेर में 2 मोटर बोट तैनात की गई हैं। एसडीआरएफ पहले से है। कलेक्टर ने टेकनपुर से एनडीआरएफ की टीम भी बुलाई है।नेशनल हाइवे-92 बरही चंबल पुल पर मध्यप्रदेश और उत्तरप्रदेश की ओर से पुलिस बल तैनात कर दिया गया है। चंबल में पानी बढ़ने से उसके किनारे के 89 गांवों में संकट खड़ा हो गया।


'नमामि देवी नर्मदे' महोत्सव मे शिरकत

अहमदाबाद। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज अपने 69वें जन्‍मदिन पर नर्मदा नदी पर बने गुजरात के सरदार सरोवर बांध स्थल पर पहुंचे। पीएम मोदी ने हेल‍िकॉप्‍टर से सरदार वल्‍लभभाई पटेल की दुनिया की सबसे ऊंची प्रतिमा का अवलोकन किया और नर्मदा नदी की पूजा की। गुजरात की 'जीवन रेखा' कहे जाना वाला सरदार सरोवर बांध नर्मदा नदी के ऊपर बना है, जिसमें पहली बार पानी सर्वोच्च स्तर पर पहुंचा है। बताया जा रहा है कि इसके बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपनी मां हीरा बा से आशीर्वाद लेने के लिए घर जाएंगे।


सरदार सरोवर बांध पहुंचने के बाद पीएम मोदी ने टूरिस्ट पार्क में कैक्टस गार्डन का अवलोकन किया। चंडीगढ़ और बेंगलुरु के बाद अब गुजरात के नर्मदा जिले में भी कैक्टस गार्डन लोगों को देखने को मिलेगा। बता दें कि इस गार्डन में कैक्टस की तकरीबन 5000 प्रकार की प्रजातियां मौजूद हैं। इससे पहले पीएम मोदी केवडिया के जंगल सफारी टूरिस्ट पार्क में भी गए। नर्मदा डैम के पास स्थित इस जंगल सफारी के दौरान पीएम मोदी के साथ गुजरात के सीएम विजय रूपाणी भी मौजूद थे। पीएम मोदी ने सरदार पटेल की प्रतिमा को भी देखा जो दुनिया में सबसे ऊंची है।


इसके बाद पीएम मोदी 'नमामि देवी नर्मदे महोत्सव' में शामिल हुए। केवडिया के एकता नर्सरी में पारंपरिक नृत्य करते हुए कलाकारों ने प्रधानमंत्री मोदी का स्‍वागत किया। इस अवसर पर पीएम मोदी ने कहा कि केवडिया में स्थानीय वातावरण को बेहतर बनाने और पर्यटक सुविधाओं को बढ़ाने पर फोकस किया जा रहा है। प्रधानमंत्री बटरफ्लाई गार्डेन में भी गए। इसके बाद पीएम मोदी ने सरदार सरोवर बांध पर नर्मदा नदी की पूजा की।


'नमामि देवी नर्मदे महोत्सव' में शिरकत
-इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सोमवार रात को अहमदाबाद पहुंच गए। पहले के तय कार्यक्रम के मुताबिक पीएम मोदी को गांधीनगर से केवड़िया के लिए रवाना होने से पहले अपनी मां हीरा बा से मिलकर उनका आशीर्वाद लेना था लेकिन बाद में यह कार्यक्रम स्‍थगित हो गया। बताया जा रहा है कि केवड़‍िया से लौटने के बाद पीएम मोदी अपनी मां से मिलने जाएंगे।


सज गया सरदार डैम
-गुजरात की 'जीवन रेखा' माना जाने वाला सरदार सरोवर बांध पूरी तरह से भर गया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी खुद इस घटना के गवाह बन रहे हैं। इस बांध का उद्घाटन प्रधानमंत्री मोदी ने 17 सितंबर, 2017 को किया था। पीएम के आने से पहले सरदार सरोवर डैम को सजा दिया गया है और यह तिरंगे की रोशनी में नहाया हुआ है। केवड़िया में बांध स्थल पर प्रधानमंत्री एक सभा को संबोधित करेंगे।


भगवान दत्तात्रेय के मंदिर में दर्शन
-पीएम मोदी के इस कार्यक्रम में शामिल होने के लिए 10 हजार लोगों के पहुंचने का अनुमान है। इसमें नर्मदा, भरूच और छोटा उदयपुर जिलों से बड़ी संख्‍या में लोग कार्यक्रम स्‍थल पर पहुंच गए हैं। प्रधानमंत्री अपने संबोधन के बाद बांध तथा स्टेच्यू ऑफ यूनिटी के पास चल रहीं विकास परियोजनाओं का निरीक्षण करेंगे। पीएम मोदी केवड़िया के पास गरुणेश्वर गांव में भगवान दत्तात्रेय के मंदिर में दर्शन करेंगे।


आरपीएफ का सोशल मीडिया प्रयोग बंद

नई दिल्ली। रेलवे सुरक्षा बल के जवानों को सोशल मीडिया के उपयोग पर पाबंदी लगा दी गई है। इसी तरह उन्हें धार्मिक कार्यक्रमों से दूरी बनाने के निर्देश दिए गए हैं। खासतौर पर कहा गया है कि वे वर्दी में अपनी फोटो अपलोड नहीं करें। यह निर्देश रेलवे सुरक्षा बल के महानिदेशक (डीजी) अरुण कुमार ने देशभर में जारी किए हैं। पालन नहीं करने वालों को कार्रवाई की चेतावनी दी गई है। आदेश के बाद सोशल मीडिया में सक्रिय रहने वाले आरपीएफ के जवानों के सामने मुसीबत खड़ी हो गई है। डीजी ने आरपीएफ के अधिकारियों व जवानों के लिए डायरेक्टिव-54 के तहत निर्देश दिए हैं। इस आदेश में डीजी ने सभी को समझाइश दी है और सोशल मीडिया के उपयोग के लिए गाइडलाइन भी जारी की है।
व्यक्तिगत अकाउंट के उपयोग के 33 दिशा-निर्देशों में मुख्य बातों में सबसे अहम बात यह है कि व्यक्तिगत एकाउंट के उपयोग में न आरपीएफ की वर्दी में फोटो, न ही आरपीएफ लोगो या ऐसे जगह का बैकग्राउंड नहीं होना चाहिए, जो कार्यस्थल के महत्वपूर्ण जगहों से संबंधित हो।


आरपीएफ कर्मी के व्यक्तिगत अकाउंट से पोस्ट करने पर जवानों की ही जिम्मेदारी होगी। भले ही उसे परिवार के सदस्यों ने किया हो। सेवा से संबंधित व्यक्तिगत समस्या को सोशल मीडिया से उठाने पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। इसी तरह धार्मिक संगठनों से जुड़ने व सहभागी बनाने पर पाबंदी लगाई गई है। त्योहारों के दिनों में किसी कार्यक्रम में शामिल होने पर भी रोक लगी है। उन्हें इस दौरान सोशल मीडिया पर भी सक्रिय नहीं रहने की हिदायत दी गई है। इस आदेश का पालन कराने के लिए जोनल व मंडल स्तर पर आरपीएफ के अधिकारियों को निर्देश जारी किया जा चुका है। पोस्ट प्रभारियों को भी डीजी के निर्देशों को कड़ाई से पालन करने कहा गया है। बताया जाता है कि आरपीएफ के जवान आए दिन डीजी को सोशल मीडिया पर अपनी समस्या बता रहे थे और कुछ जवान अपनी समस्या के साथ धार्मिक फोटो भी भेज रहे थे।


जानिए क्या है आदेश में


सोशल मीडिया पर किसी भी त्वरित के सवालों का जवाब नहीं देना। साथ ही अपनी पहचान को गोपनीय बनाए रखना है। रेलवे से जुड़े सीसीटीवी फुटेज को किसी भी व्यक्ति को नहीं दिया जाएगा। ऑन ड्यूटी होने विभागीय कार्य व सोशल मीडिया का प्रयोग नहीं करना है। अनुशासन में रहना है। यह आदेश आरपीएफ के नियमों को ध्यान में रखते हुए जारी किया गया है। सभी जवानों को अनिवार्य रूप से नियम व गाइडलाइन का पालन करना होगा। जवान विभागीय कार्य के दौरान सोशल मीडिया पर खुद की फोटो नहीं डालेगा सिर्फ आरपीएफ लोगो का ही प्रयोग करना होगा।


अनुशासन के लिए गाइडलाइन जारी करना जरूरी :रेलवे सुरक्षा बल के महानिदेशक अरुण कुमार ने मीडिया को बताया कि आरपीएफ में अनुशासन जरूरी है। सोशल मीडिया में कुछ जवान अपनी फोटो डाल रहे थे, जिसमें बैक ग्राउंड साफ नजर आ रहा था। इससे सुरक्षा के लिहाज से गोपनीयता भंग हो रही थी। सोशल मीडिया से दूर रहने के बारे में गाइडलाइन जारी की गई है। इसमें नियमानुसार कार्रवाई किए जाने का प्रावधान है।


मोदी को जन्मदिन की बधाईयो का तांता लगा

पीएम मोदी को अमित शाह सहित कई नेताओं ने दी जन्मदिन की शुभकामनाएं


मनोज सिंह


नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंगलवार को 69 वर्ष के हो गए और इस अवसर पर उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और भाजपा अध्यक्ष एवं गृह मंत्री अमित शाह समेत कई नेताओं ने उन्हें जन्मदिन की शुभकामनाएं दीं। नायडू ने अपने संदेश में कहा कि मोदी के सक्षम नेतृत्व में देश लगातार प्रगति कर रहा है। अमित शाह ने मोदी को बधाई देते हुए ट्वीट किया कि आपके नेतृत्व में उभरते नए भारत ने विश्व में एक मजबूत, सुरक्षित और विश्वसनीय राष्ट्र के रूप में अपनी पहचान बनाई है।


उन्होंने कहा कि हर भारतीय के जीवन को सुगम बनाने के लिए आपका परिश्रम एवं संकल्प भाव हमारे लिए एक प्रेरणास्त्रोत है। एक जनप्रतिनिधि, एक कार्यकर्ता और एक देशवासी के रूप में आपके साथ राष्ट्रीय पुनर्निर्माण में भागीदार बनना सौभाग्य की बात है। ईश्वर से आपके स्वस्थ जीवन एवं दीर्घायु की कामना करता हूं।
पीएम नरेन्द्र मोदी का 69वां जन्मदिन आज, मां से लेंगे आशीर्वाद। शाह ने ट्वीट किया कि विकास के साथ-साथ भारतीय संस्कृति को और अधिक समृद्ध करने में मोदीजी का अभूतपूर्ण योगदान है। मोदी ने एक सुधारक के रूप में न सिर्फ राजनीति को नई दिशा प्रदान की बल्कि आर्थिक सुधारों के साथ-साथ दशकों से चली आ रही समस्याओं का स्थायी समाधान निकालकर सभी को गौरवान्वित किया।


उन्होंने कहा कि दृढ़ इच्छाशक्ति, निर्णायक नेतृत्व और अथक परिश्रम के प्रतीक एवं देश के सर्वाधिक लोकप्रिय नेता प्रधानमंत्री मोदीजी को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं।रक्षा मंत्री ने प्रधानमंत्री को शुभकामनाएं देते हुए कहा कि उनके दूरदर्शी नेतृत्व ने भारत को प्रतिष्ठा की नई ऊंचाइयों पर ले जाने में मदद की। मैं उनके अच्छे स्वास्थ्य एवं दीर्घायु की कामना करता हूं।


दूसरों के कार्य में हस्तक्षेप न करें:कुंभ

राशिफल


मेष-बेवजह झगड़े की संभावना है। क्रोध व उत्तेजना पर नियंत्रण रखें। बुरी खबर प्राप्त हो सकती है। शारीरिक कष्ट से बाधा उत्पन्न हो सकती है। रोजमर्रा के कामों में रुकावट हो सकती है। लेन-देन में जल्दबाजी न करें। चिंता तथा तनाव बने रहेंगे। धनार्जन होगा।


वृष-शारीरिक व मानसिक रूप से स्वस्थता महसूस करेंगे। व्यावसायिक तथा सामाजिक क्षेत्र में यश प्राप्त होने की संभावना है। प्रतिस्पर्धी पर विजय प्राप्त होगी। व्यापार-व्यवसाय अच्छा चलेगा। बाहर घूमने-फिरने जाने का कार्यक्रम बन सकता है। प्रसन्नता बनी रहेगी।


मिथुन-दूर से शुभ समाचारों की प्राप्ति होगी। घर में अतिथियों का आगमन होगा। आत्मविश्वास से परिपूर्ण रहेंगे। कोई बड़ा कार्य करने का मन बनेगा। परिवार तथा मित्रों के साथ मनोरंजक समय व्यतीत होगा। धन प्राप्ति सुगम होगी। प्रसन्नता रहेगी।


कर्क-नवीन वस्त्राभूषण की प्राप्ति हो सकती है। समय मनोरंजक व्यतीत होगा। घर से बाहर यात्रा का कार्यक्रम बन सकता है। धन प्राप्ति सुगम होगी। समय अनुकूल है। प्रतिद्वंद्विता में वृद्धि हो सकती है। हल्के हंसी-मजाक से बचें। नौकरी में प्रभाव वृद्धि होगी।


सिंह-किसी पारिवारिक कार्यक्रम में भाग लेने का अवसर प्राप्त होगा। वाणी पर नियंत्रण रखें। जोखिम व जमानत के कार्य टालें। व्यापार-व्यवसाय ठीक चलेगा। नौकरी में उच्चाधिकारी की अपेक्षाएं बढ़ेंगी। तनाव रहेगा। कोई बड़ा खर्च सामने आ सकता है।


कन्या-बकाया वसूली के प्रयास सफल रहेंगे। स्वास्थ्य साधारणतया अच्छा रहेगा। किसी मनोरंजक यात्रा का कार्यक्रम बन सकता है। परिवार के साथ जीवन सुखमय व्यतीत होगा। परिवार के किसी सदस्य के स्वास्थ्य की चिंता रहेगी। धन प्राप्ति सुगम होगी।


तुला-परिवार के सदस्यों तथा पार्टनरों के साथ किसी कार्य के बारे में योजना बनेगी। किसी प्रबुद्ध व प्रभावशाली व्यक्ति से सहायता तथा मार्गदर्शन प्राप्त होगा। मान-सम्मान मिलेगा। आय बनी रहेगी। आराम का अवसर प्राप्त होगा। विवाद न करें।


वृश्चिक-किसी तीर्थदर्शन का कार्यक्रम बन सकता है। मित्रों का सहयोग प्राप्त होगा। परिवार के सदस्यों के बारे में चिंता हो सकती है। नौकरी में चैन रहेगा। धन प्राप्ति सुगम होगी। समय अनुकूल है। कारोबार में वृद्धि होगी।


धनु-स्वास्थ्य का पाया कमजोर रहेगा। व्यर्थ समय व्यतीत होगा। वाहन व मशीनरी आदि के प्रयोग में लापरवाही न करें। बेवजह विवाद से बचें। किसी बड़ी समस्या का सामना करना पड़ सकता है। आय बनी रहेगी। चिंता तथा तनाव बने रहेंगे।


मकर-प्रेम-प्रस्ताव प्राप्त हो सकता है। प्रसन्नता तथा संतुष्टि रहेंगे। घर से बाहर जाने का कार्यक्रम बन सकता है। किसी बड़े व वरिष्ठ व्यक्ति की सहायता से रुके काम बनेंगे। आय में वृद्धि होगी। जीवन सुखमय व्यतीत होगा। विवाद से बचें।


कुंभ-किसी स्थायी संपत्ति के बड़े सौदे से बड़ा लाभ होने के योग हैं। प्रयास भरपूर करें। उन्नति के मार्ग प्रशस्त होंगे। पारिवारिक सहयोग से प्रसन्नता में वृद्धि होगी। दूसरों के कार्य में हस्तक्षेप न करें। आय में वृद्धि होगी। स्वास्थ्य अच्छा रहेगा।


मीन-जल्दबाजी से हानि की संभावना है। किसी भी प्रकार के विवाद में न पड़ें। कोई बड़ी समस्या हो सकती है। पार्टी व पिकनिक का आनंद मनपसंद भोजन के साथ प्राप्त होगा। बौद्धिक तथा रचनात्मक कार्य सफल रहेंगे। लाभ के अवसर हाथ आएंगे। प्रमाद न करें।


अमरबेल एकसाकीय परजीवी

अमरबेल एक प्रकार की लता है जो बबूल, कीकर, बेर पर एक पीले जाल के रूप में लिपटी रहती है। इसको आकाशबेल, अमरबेल, अमरबल्लरी भी कहते हैं। प्राय: यह खेतों में भी मिलती है, पौधा एकशाकीय परजीवी है जिसमें पत्तियों और पर्णहरिम का पूर्णत: अभाव होता है। इसीलिए इसका रंग पीतमिश्रित सुनहरा या हल्का लाल होता है। इसका तना लंबा, पतला, शाखायुक्त और चिकना होता है। तने से अनेक मजबूत पतली-पतली और मांसल शाखाएँ निकलती हैं जो आश्रयी पौधे (होस्ट) को अपने भार से झुका देती हैं।इसके फूल छोटे, सफेद या गुलाबी, घंटाकार, अवृत्त या संवृत्त और हल्की सुगंध से युक्त होते हैं।


यह बहुत विनाशकारी लता है जो अपने पोषक पौधे को धीरे-धीरे नष्ट कर देती है। इसमें पुष्पागमन वसंत में और फलागम ग्रीष्म ऋतु में होता है। इसकी लता और बीज का उपयोग औषधि के रूप में होता है। इसके रस में कस्कुटीन (Cuscutien) नामक ऐल्केलायड, अमरबेलीन, तथा पीताभ हरित वर्ण का तेल पाया जाता है। इसका स्वाद तिक्त और काषाय होता है। इसका रस रक्तशोधक, कटुपौष्टिक तथा पित्त कफ को नष्ट करनेवाला होता है। फोड़े-फुंसियों और खुजली पर भी इसका प्रयोग किया जाता है। पंजाब में दाइयाँ इसका क्वाथ गर्भपात कराने के लिए देती हैं। आश्रयी वृक्ष के अनुसार इसके गुणों में भी परिवर्तन आ जाता हैं।


प्रबंधन का महत्व और अध्ययन

प्रबन्ध का महत्त्व 
प्रबंध एक सार्वभौमिक क्रिया है जो किसी भी संगठन का अभिन्न अंग है। अब हम उन कुछ कारणों का अध्ययन करेंगे जिसके कारण प्रबन्ध इतना महत्त्वपूर्ण हो गया है-


(क) प्रबन्ध सामूहिक लक्ष्यों को प्राप्त करने में सहायक होता है- प्रबंध की आवश्यकता प्रबंध के लिए नहीं बल्कि संगठन के उद्देश्यों की प्राप्ति के लिए होती है। प्रबंध का कार्य संगठन के कुल उद्देश्य को प्राप्त करने के लिए व्यक्तिगत प्रयत्न को समान दिशा देना है।
(ख) प्रबन्ध क्षमता में वृद्धि करता है- प्रबंधक का लक्ष्य संगठन की क्रियाओं के श्रेष्ठ नियोजन, संगठन, निदेशन, नियुक्तिकरण एवं नियंत्रण के माध्यम से लागत को कम करना एवं उत्पादकता को बढ़ाना है।
(ग) प्रबन्ध गतिशील संगठन का निर्माण करता है- प्रत्येक संगठन का प्रबंध निरंतर बदल रहे पर्यावरण के अंतर्गत करना होता है। सामान्यतः देखा गया है कि किसी भी संगठन में कार्यरत लोग परिवर्तन का विरोध करते हैं क्योंकि इसका अर्थ होता है परिचित, सुरक्षित पर्यावरण से नवीन एवं अधिक चुनौतीपूर्ण पर्यावरण की ओर जाना। प्रबंध लोगों को इन परिवर्तनों को अपनाने में सहायक होता है जिससे कि संगठन अपनी प्रतियोगी श्रेष्ठता को बनाए रखने में सफल रहता है।
(घ) प्रबन्ध व्यक्तिगत उद्देश्यों की प्राप्ति में सहायक होता है- प्रबंधक अपनी टीम को इस प्रकार से प्रोत्साहित करता है एवं उसका नेतृत्व करता है कि प्रत्येक सदस्य संगठन के कुल उद्देश्यों में योगदान देते हुए व्यक्तिगत उद्देश्यों को प्राप्त करता है। अभिप्रेरणा एवं नेतृत्व के माध्यम से प्रबंध व्यक्तियों को टीम-भावना, सहयोग एवं सामूहिक सफलता के प्रति प्रतिबद्धता के विकास में सहायता प्रदान करता है।
(ङ) संगठन बहुउद्देश्यीय होता है जो इसके विभिन्न घटकों के उद्देश्यों को पूरा करता है। इन सबको पूरा करने की प्रक्रिया में प्रबन्ध, संगठन के विकास में सहायक होता है तथा इसके माध्यम से समाज के विकास में सहायक होता है। यह श्रेष्ठ गुणवत्ता वाली वस्तु एवं सेवाओं को उपलब्ध कराने, रोजगार के अवसरों को पैदा करने, लोगों के भले के लिए नयी तकनीकों को अपनाने, बुद्धि एवं विकास के रास्ते पर चलने में सहायक होता है।
प्रबंध की प्रकृति 
प्रबंध इतना ही पुराना है जितनी की सभ्यता। यद्यपि आधुनिक संगठन का उद्गम नया ही है लेकिन संगठित कार्य तो सभ्यता के प्राचीन समय से ही होते रहे हैं। वास्तव में संगठन को विशिष्ट लक्षण माना जा सकता है जो सभ्य समाज को असभ्य समाज से अलग करता है। प्रबंध के प्रारंभ के व्यवहार वे नियम एवं कानून थे जो सरकारी एवं वाणिज्यिक क्रियाओं के अनुभव से पनपे। व्यापार एवं वाणिज्य के विकास से क्रमशः प्रबंध के सिद्धांत एवं व्यवहारों का विकास हुआ।


'प्रबंध' शब्द आज कई अर्थों में प्रयुक्त होता है जो इसकी प्रकृति के विभिन्न पहलुओं को उजागर करते हैं। प्रबंध के अध्ययन का विकास बीते समय में आधुनिक संगठनों के साथ-साथ हुआ है। यह प्रबंधकों के अनुभव एवं आचरण तथा सिद्धांतों के संबध समूह दोनों पर आधारित रहा है। बीते समय में इसका एक गतिशील विषय के रूप में विकास हुआ है। जिसकी अपनी विशिष्ट विशेषताएँ हैं। लेकिन प्रबंध की प्रकृति से संबंधित एक प्रश्न का उत्तर देना आवश्यक है कि प्रबंध विज्ञान है या कला है या फिर दोनों है? इसका उत्तर देने के लिए आइए विज्ञान एवं कला दोनों की विशेषताओं का अध्ययन करें तथा देखें कि प्रबंध कहाँ तक इनकी पूर्ति करता है।


यमाचार्य नचिकेता वार्ता (कर्तव्यवाद)

गतांक से...
 मैं यह विचारता हूं कि जब यह प्रश्‍न्न किया जाए कि राजा इसका निवारण क्या है? इन वाक्यों का, तो निवारण मै उच्चारण किए देता हूं। मैंने कई काल में राष्ट्रीय निवारणओं की चर्चाएं प्रकट की है । संसार के सब राजा एकत्रित हो,अपनी संपदा के आचार्य, अथवा रूढियो के जो संप्रदाय के आचार्य हैं। उनके पक्‍ंती लगाई जाए और उसका शास्त्रार्थ होना चाहिए। जो ज्ञान, यज्ञ और मानव दर्शन पर घटित हो जाए। उसी सिद्धांत को राजा को अपनाना चाहिए। उस सिद्धांत को अपनाकर के अहिंसा परमो धर्म की विधि को अपनाकर के जब राजा  कर्तव्य करेगा तो वह राम राज्य, राष्ट्र का पुन: परिवर्तन हो जाएगा। परंतु देखो जब यहां नाना प्रकार के मत-मतांतर केवल अपनी राष्ट्रीय सत्ता के लिए, इनमें विचार नहीं किया जाता है। वाक्य संबंध नहीं किया जाता है। तो राजा और प्रजा दोनों हिंसक बनते चले जाते हैं। मैं विचारता हूं कि मौलिक सिद्धांत को लिया जाए। विज्ञान के ऊपर जो तत्पर हो धर्म और मानवता के ऊपर जो तपस्या में परिणत हो जाए। उसी को तो हमें स्वीकार करना चाहिए। परंतु वेद को ले लेते हैं वेद के विचारों को देते हैं तो उसमें विज्ञान है। उसमें मानवता है उसमें मानव दर्शन का निर्माण होता है। तो उस धर्म को हमें अपनाना चाहिए। परंतु राष्ट्रीयता का निवारण केवल यही है कि हम उसके निवारण रूपों में कर सकते हैं। चाहे जितने मतांतर हैं उन को समाप्त किया जा सकता है। उनको एक वेदी पर लाया जाए और एक वेदी पर लाकर के जब एक वेदि का प्राणी हो जाता है एक विचार हो जाता है। वायुमंडल में उनके शुद्ध विचार प्रवेश करेंगे तो वायुमंडल भी पवित्र हो जाएगा। राष्ट्र पवित्र बन जाएगा। मानव में से विचारों की सुगंध आना प्रारंभ हो जाएगा। तो इसलिए मैंने बहुत पुरातन काल में कहा कि राष्ट्रीयता का एक ही निवारण होता है। क्योंकि इस राष्ट्र का निर्माण सबसे प्रथम भगवान मनु ने किया था। तो मनु से एक समय एक ऋषि ने प्रश्न किया। हे भगवन, हे मनु, तुमने राष्ट्र का निर्माण क्यों किया है? तो भगवान मनु ने यह कहा कि राजा के राष्ट्र में मछली से लेकर के प्राणी तक किसी का भी हनन नहीं होना चाहिए। क्योंकि राष्ट्र का निर्माण इसलिए होता है कि आज संभव है मानवता को कर्तव्यवाद के लिए मानव को शिक्षा दी जाए। राष्ट्रीय क्या है, राष्ट्र अपने में महान नहीं है परंतु देखो राष्ट्र का पालन इसलिए निर्माण होता है। कि वह अपने मानव कर्तव्य की वेदी पर स्वयं को ला सकें। इसलिए महापुरुषों का निर्वाचन होता है और राजाओं को चुनौती। वशिष्ठ की चुनौती प्रदान करके कहा जाता है कि तू अपने राष्ट्र को ऊंचा बना। मानव समाज को कर्तव्यवाद में लाने के लिए तत्पर हो। परंतु देखो मनु जी का यह सिद्धांत, मनु जी का राष्ट्र का निर्माण किया हुआ, दिखाया मार्ग अपनाओ। मेरे पूज्यपाद गुरुदेव कहा करते हैं कि देखो जब वह समुद्र के तट पर तपस्या करने पहुंचे। कमंडल में जब तर्पण करने लगे तो जल को जब कमांडलो में लिया तो उसमें एक मछली आ गई। वह जब उसको समुद्र में रिक्त करने लगे तो मछली अपने विचार व्यक्त करती है। क्योंकि वह राजा होता है राजा प्रत्येक प्राणी के विचारों को अपने में अनुमान के द्वारा, मंथन के द्वारा समझ सकता है। भगवान ने उस मछली को दृष्टिपात किया तो मछली कहती है। हे भगवान, हे राजन, मैं इसलिए तेरी शरण आई हूं। समुंदरों का यह सिद्धांत है। बड़ी मछली छोटी मछली को अपना आहार बना लेती है और वह प्रबल बनती जाती है। मेरी इच्छा है मैं आपकी शरण में आई हूं, आपके मन में आई हूं आप मेरी रक्षा करो। भक्तिभाव से मनु ने, उन्होंने कमडलं मे प्रवेश कराया। उसमें मछली पनपती रही, प्रबल हो गई विशाल, बन गई और अपने समुंद्र को चली गई। और उसने चलते समय यह कहा हे मनु, कुछ काल के पश्चात वह भविष्यवाणी करने लगी है। मनु कुछ काल के पश्चात समुद्रों में जल प्लावन आएगा और मेरा मिलन समुंदरों से होगा और तुम एक नौका बनवा लेना वह नौका मेरे सिंह से मेरी अनुभूतियों को उसको जकड़ देना मैं तेरी नौका की रक्षा करूंगी। वही तो तुम्‍हारा रक्षक होता है जिसकी तुम रक्षा करो। जिसकी तुम रक्षा करोगे वह तुम्हारी रक्षा करेगा। शरीर के लिए तुम महान बनोगे तो शरीर तुम्हें महान बना देगा।


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

यूनिवर्सल एक्सप्रेस


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण


september 18, 2019 RNI.No.UPHIN/2014/57254


1.अंक-46 (साल-01)
2. बुधवार,18 सितबंर 2019
3.शक-1941,अश्‍विन, कृष्‍णपक्ष,तिथि चतुर्थी,विक्रमी संवत 2076


4. सूर्योदय प्रातः 6:10,सूर्यास्त 6:10
5.न्‍यूनतम तापमान -26 डी.सै.,अधिकतम-34+ डी.सै., हवा की गति धीमी रहेगी, उमस बनी रहेगी बरसात की संभावना रहेगी।
6. समाचार पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है! सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा।
7. स्वामी, प्रकाशक, मुद्रक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित।


8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102


9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.201102


https://universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
cont.935030275
 (सर्वाधिकार सुरक्षित)


आईटीओ से लाल किले तक ‘तिरंगा यात्रा’ निकाली

अकांशु उपाध्याय      नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 71वें जन्मदिन पर शुक्रवार को सामाजिक संगठनों ने राष्ट्रीय राजधानी में आईटीओ से ...