बुधवार, 2 जून 2021

इसाक हरज़ोग को इसरायल का 11वां राष्‍ट्रपति चुना

अखिलेश पाण्डेय           
येरूशलम। इसरायल की लेबर पार्टी के पूर्व प्रमुख इसाक हरज़ोग को देश का 11वां राष्‍ट्रपति चुना गया है। इसरायल की संसद ने ऐसे समय हरज़ोग को राष्‍ट्रपति चुना। जब विपक्षी दल गठबंधन सरकार बनाने के लिए विचार-विमर्श कर रहे हैं। ताकि लगातार 12 वर्ष से प्रधानमंत्री पद पर आसीन नेतन्‍याहू का शासन समाप्त हो सके। 
हरज़ोग साठ वर्ष के हैं। वे राष्‍ट्रपति रियूवेन रिवलिन का स्‍थान लेंगे। रिवलिन 2014 में राष्‍ट्रपति चुने गए थे। हरज़ोग 9 जुलाई को पदभार संभालेंगे। इस्राइल में राष्‍ट्रपति को बहुत कम अधिकार हासिल हैं और देश के प्रधानमंत्री ही वास्‍तविक सत्‍ता चलाते हैं।

अमेरिकी सेना ने अफगान से वापसी की तैयारी की

काबुल/ वाशिंगटन डीसी। अमेरिकी सेना ने अफगानिस्तान से अपना बोरिया-बिस्तर बांध घर वापसी की तैयारी कर ली है। अगले 20 दिनों में अमेरिका बगराम एयरबेस को अफगानिस्तान के सुरक्षाबलों को सौंपेगा। मामले से संबंधित एक अधिकारी ने मंगलवार को बताया कि वाशिंगटन से दबाव बनाया जा रहा है कि हम अफगानिस्तान से अपनी आखिरी टुकड़ी को भी हटा लें। अमेरिकी सेना लगभग 20 दिनों में अपना मुख्य बगराम एयर बेस अफगान बलों को सौंप देगी। गौरतलब है कि कई दशकों बाद अमेरिका अपनी सेना को अफगानिस्तान से वापस बुला रहा है। अफगानिस्तान से अमेरिकी-नाटो सैनिकों का पूरा निकास लगभग पूरा होने वाला है। एक अमेरिकी रक्षा अधिकारी ने इस बात की पुष्टि करते हुए कहा कि हम बगराम एयर बेस को सौंप देंगे। लगभग 20 दिनों में हैंडओवर की प्रक्रिया को पूरा कर लिया जाएगा। रक्षा मंत्रालय की तरफ से इस प्रकिया को सफलतापूर्वक प्रबंधित करने के लिए विशेष समितियों का गठन किया था।

दिल्ली: 24 घंटे में कोरोना के 576 नए मामलें मिलें

अकांशु उपाध्याय               
नई दिल्ली। दिल्ली में कोरोना के मामलों में लगातार गिरावट जारी है। दिल्ली सरकार की तरफ से जारी किए गए दैनिक बुलटेन के अनुसार, पिछले 24 घंटे में राजधानी में 576 नए मामले सामने आए हैं। वहीं दिल्ली का पॉजिटिविटी रेट भी घटकर मात्र 0.78 प्रतिशत रह गया है। दिल्ली में पिछले 24 घंटों में कोरोना से 103 लोगों की मौत हुई है। जबकि 1,287 लोग इस संक्रमण से ठीक हुए हैं। दिल्ली में वर्तमान में कोरोना के 9,364 सक्रिय मामले हैं। नए मामलों के साथ कोरोना के कुल मामले बढ़कर 14,27,439 हो गए हैं। राजधानी दिल्ली में पिछले 24 घंटे में 50,658 लोगों का टीकाकरण हुआ है, जिसमें से 33758 लोगों को कोरोना का पहला टीका, जबकि 16900 लोगों को कोरोना की दूसरा टीका लगाया गया है।
भले ही कोरोना वायरस की लहर का चरम निकल चुका हो लेकिन अब फंगस की नई लहर दिखाई दे रही है। विशेषज्ञों का भी कहना है कि राष्ट्रीय राजधानी में फंगस का पीक देखने को मिल रहा है क्योंकि यहां के बड़े-बड़े अस्पतालों में प्रत्येक दिन कम से कम आठ से 10 नए मरीज भर्ती करने पड़े रहे हैं। स्थिति यह है कि पिछले दो दिन में ही 100 से ज्यादा फंगस रोगियों को अलग-अलग अस्पतालों में भर्ती किया है जिसके चलते कुल मरीजों की संख्या 944 हो चुकी है। इनमें से 650 दिल्ली के सरकारी और प्राइवेट अस्पतालों में भर्ती हैं। जबकि 300 मरीजों का उपचार केंद्र सरकार के एम्स, सफदरजंग, लेडी हार्डिंग और आरएमएल अस्पताल में चल रहा है। 

दसवीं की बोर्ड परीक्षा रद्द करने का फैसला किया

अकांशु उपाध्याय                 
नई दिल्ली। दसवीं बोर्ड का अंकपत्र तैयार करने के लिए स्कूलों के आंतरिक आकलन के आधार पर बनी नीति में बदलाव की मांग करते हुए एक याचिका हाई कोर्ट में दायर की गई है। चीफ जस्टिस डीएन पटेल की अध्यक्षता वाली बेंच ने सुनवाई करते हुए सीबीएसई, केंद्र और दिल्ली सरकार को नोटिस जारी करके 27 अगस्त तक जवाब दाखिल करने का निर्देश दिया है।  
यह याचिका एनजीओ जस्टिस फॉर ऑल की ओर से वकील शिखा शर्मा बग्गा ने दायर की है। याचिकाकर्ता की ओर से वकील खगेश झा ने कहा कि केंद्र सरकार ने पिछले 14 अप्रैल को कोरोना के बढ़ते मामलों के बाद दसवीं की बोर्ड परीक्षा रद्द करने का फैसला किया। 
केंद्र सरकार ने कहा था कि छात्रों को सीबीएसई की और से तैयार ऑब्जेक्टिव मानदंड के मुताबिक अंक दिए जाएंगे। केंद्र सरकार ने ये फैसला प्रधानमंत्री की अध्यक्षता में उच्च स्तरीय बैठक के बाद लिया। याचिका में मांग की गई है कि दसवीं बोर्ड के लिए अंकों का टेबुलेशन स्कूल की ओर से आयोजित आंतरिक आकलन के आधार पर करने की नीति में बदलाव हो। याचिका में कहा गया सीबीएसई स्कूलों के पिछले तीन साल के प्रदर्शन के आधार पर टेबुलेशन तैयार कर रहा है जो सरासर गलत है। वर्तमान शैक्षणिक सत्र के बच्चों का आकलन पूर्व के सत्र के बच्चों के साथ करना बच्चों के अधिकारों का उल्लंघन है। 

यूपी में कोविड मरीजों की संख्या-30 हजार से कम

हरिओम उपाध्याय             
लखनऊ। कोरोना महामारी के खिलाफ लड़ाई में उत्तर प्रदेश की स्थिति लगातार बहुत अच्छी हो रही है। सतत प्रयासों से अब पूरे प्रदेश में एक्टिव कोविड मरीजों की कुल संख्या 30 हजार से भी कम हो चुकी है। वर्तमान में 28,694 कोरोना मरीज उपचाराधीन हैं। अब तक 16 लाख 44 हजार 511 प्रदेशवासी कोरोना संक्रमण से मुक्त हो चुके हैं। हमारा रिकवरी रेट 97.1 फीसदी हो गया है। यह बातें उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को कोविड-9 टीम के साथ हुई समीक्षा बैठक के दौरान कही। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश ने आज 05 करोड़ कोविड टेस्टिंग का नया कीर्तिमान बनाया है। इतने कोविड टेस्ट किसी भी अन्य राज्य द्वारा नहीं किये गए। कोरोना संक्रमण की रोकथाम में ट्रेसिंग-टेस्टिंग के महत्व को दृष्टिगत रखते हुए उत्तर प्रदेश ने प्रारंभ से ही एग्रेसिव होने की नीति अपनाई है। यही कारण है कि आज प्रदेश में स्थिति नियंत्रण में है। विगत 24 घंटे में कुल 3,31,511 टेस्ट किए गए, जबकि 1514 नए केस की पुष्टि हुई है और 4,439 लोग स्वस्थ होकर डिस्चार्ज हुए।
बताया कि कोविड टीकाकरण की प्रक्रिया प्रदेश में सुचारु रूप से चल रही है। 45 वर्ष से अधिक और 18-44 आयु वर्ग के लोगों को कोविड सुरक्षा कवर प्रदान करने में उत्तर प्रदेश प्रथम स्थान पर है। अब तक 1 करोड़, 51 लाख, 81 हजार, 813 लोगों को पहली डोज दी जा चुकी है, जबकि 35 लाख, 05 हजार, 573 लोग वैक्सीन के दोनों डोज से आच्छादित हो चुके हैं। इस प्रकार प्रदेश में अब तक वैक्सीन के कुल 1 करोड़, 86 लाख, 87 हजार, 386 डोज एडमिनिस्टर किए जा चुके हैं। मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि एक जून से प्रारंभ सभी 75 जिलों में 18+ आयु के टीकाकरण अभियान में लोगों की भागीदारी उत्साहजनक है। इस महाभियान के पहले दिन एक जून को साढ़े 05 हजार सेंटरों पर 3,42,000 से अधिक लोगों ने वैक्सीन का सुरक्षा-कवर प्रॉप्त किया। इस क्रम को और बेहतर किया जाए।
बताया कि सभी नागरिकों का वैक्सीनेशन निःशुल्क है। कोविड प्रोटोकॉल का अनुपालन सुनिश्चित हो, इसके लिए ऑनलाइन पंजीयन की व्यवस्था लागू की गई है। वेटिंग एरिया और ऑब्जर्वेशन एरिया की समुचित व्यवस्था हो।लोगों को कम से कम समय तक प्रतीक्षारत रहना पड़े। कोविड प्रोटोकॉल का पालन करते हुए इस महाभियान को सफल बनाएं। उन्होंने कहाकि कोरोना को लेकर प्रदेश में स्थिति तेजी से बेहतर हो रही है। हमारे 64 जिलों में 600 से कम एक्टिव केस रह गए हैं। ऐसे में मेडिकल कॉलेजों और स्वास्थ्य विभाग के अस्पतालों में सीमित संख्या के साथ जनरल ओपीडी का प्रारंभ किया जाए। ओपीडी में आने के लिए मरीज का समय पूर्व निर्धारित हो। अपॉइंटमेंट सिस्टम अनावश्यक भीड़ को रोकने में कारगर होगा। इमरजेंसी सेवाएं 24×7 जारी रखी जाएं।

चुनाव रद्द करने के लिए अदालत में याचिका दायर की

हरिओम उपाध्याय       

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में हमीरपुर के मौदहा क्षेत्र के अरतरा सीट से जिला पंचायत सदस्य सीट से विजयी हुये भाजपा उम्मीदवार के खिलाफ चुनाव रद्द करने के लिये जनपद न्यायाधीश की अदालत में याचिका दायर की गयी है। इसमे चार प्रशासनिक अधिकारियों समेत संबंधित सीट के सभी प्रत्याशियों को पार्टी बनाया गया है। अदालत ने अगली सुनवाई तीन जुलाई को सुनिश्चित की है। अरतरा सीट से भाजपा प्रत्याशी ने जीत हासिल की है। मगर उनकी मुसीबते अभी भी समाप्त नही हुयी है। अरतरा सीट के लिये भाजपा में शुरु से ही विवाद होना शुरु हो गया था। इसके लिये कई लोगों ने प्रत्याशी विजय पांडेय की शिकायत की थी। ढेर सारे सबूत दिये गये थे कि प्रत्याशी हमीरपुर शहर के रहने वाले है। ग्रामीण क्षेत्र से उनका कोई लेना देना नही है इस मामले की जांच सीडीओ के के बैश्य ने की थी और विजय पांडेय को क्लीन चिट दे दी गयी थी। इधर भाजपा खेमें में विजय पांडेय के अध्यक्ष उम्मीदवार होने के लिये चर्चायें शुरु हो गयी है। लिहाजा विरोधियों ने चुनाव रद्द करने के लिये अदालत का सहारा लिया है। याचिका देवेंद्र कुमार तथा मइयादीन नामदेव ने दाखिल की है।


गाजियाबाद: 10,708 लोगों को 1 जून को टीका

अश्वनी उपाध्याय                     
गाज़ियाबाद। जिले के 10,708 लोगों ने पहली जून को कोरोनारोधी टीका लगवाया। इनमें से 18 से 44 वर्ष के 6,931 युवाओं ने पंजीकरण के बाद सरकारी केंद्रों पर टीका लगवाया है। जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डॉ. नीरज अग्रवाल ने बताया कि जिले के 55 केंद्रों पर टीकाकरण के कुल 91 सत्र आयोजित किए गए। 
28 केंद्रों पर युवाओं के लिए टीकाकरण का इंतजाम किया गया। 45 वर्ष से अधिक उम्र के 2,542 और 1,018 बुजुर्गों को टीका लगाया गया है। 266 फ्रंट लाइन वर्कर्स एवं 26 स्वास्थ्यकर्मियों ने भी टीका लगवाया है। टीकाकरण के लिए वैक्सीन की 1,049 वायल की खपत हुई है। विगत आठ दिन में 1,04,671 लोगों ने टीका लगवाया है। इनमें से 73,933 युवाओं ने टीका लगवाया है।

बचाव: स्वास्थ्य विभाग द्वारा टीकाकरण शुरू किया

कौशाम्बी। कोविड-19 से बचाव को लेकर स्वास्थ्य विभाग द्वारा टीकाकरण शुरू कर दिया गया है। बुधवार को 18 वर्ष से 44 वर्ष के लोगो को सरकार के शासनादेश के तहत कशिया पश्चिम में टीकाकरण हुआ। सरकार ने कशिया पश्चिम गांव में टीकाकरण के लिए 100 ब्यक्तियो का लक्ष्य रखा था। कशिया पश्चिम गांव में कोविड-19 से बचाव वाले टीके में ग्रामीणों में उत्साह दिखा है और लक्ष्य से अधिक 130 लोगों का टीका करण किया गया। 
उक्त जानकारी स्वास्थ्य कर्मियों ने दी है। टीका करण के मौके पर उपस्थित खण्ड शिक्षा अधिकारी, सिराथू,सचिन कुमार ओझा,कुश कुमार पांडेय,आलोक पटेल,विकाश केसरवानी, नितेश जयसवाल, चंदन लाल,प्रेम प्रकाश, पुष्पा सिंह,प्रेमा, अनिता पांडेय,आदि।
अजीत कुशवाहा 

हापुड़: आमजन की परेशानियां, शासनादेश जारी

अतुल त्यागी                  
हापुड़। कोरोना माहमारी के दूसरी लहर में लगे आंशिक कर्फ्यू के बाद पॉजिटिव केसों में बडे स्तर पर कमी आने के बाद आमजन की परेशानियों को देखते हुए उत्तर प्रदेश सरकार ने शासनादेश जारी किया। उसमे बताया, कि जिन जिलों में 600 से कम कोराना के एक्टिव केस है। वहां पर आंशिक कर्फ्यू में सशर्तों के साथ थोड़ी ढील बरती गई है। इसमें दुकानों को सुबह 7:00 बजे से शाम 5:00 बजे तक खोलने की अनुमति दी गई है। वहीं प्रशासन ने साफ-साफ चेतावनी देते हुए कहा है कि ऐसी स्थिति में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किया जाए एवं दुकानदारों द्वारा सैनिटाइजर व मास्क की व्यवस्था भी सुनिश्चित की जाए। 
बावजूद इसके कई जिलों में लोगों की बड़ी लापरवाही देखने को मिल रही है। बुधवार को जनपद के थाना देहात पुलिस ने सड़कों पर उतरकर पीएस सिस्टम से लोगों से सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने मास्क लगाने व सैनिटाइजर का प्रयोग करने की अपील की है। पुलिस ने नवीन मंडी,गढ़ रोड, स्वर्ग आश्रम रोड पर लाउडस्पीकर से आमजन को जागरूक करते हुए कहा कि सभी दुकानदार अपने ग्राहकों को अवगत कराएं कि मास्क, सैनिटाइजर व दुकान के आगे बने गोल घेरे में रहकर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए ही खरीदारी की जाए। पुलिस ने जानकारी देते हुए बताया कि लोगों की लापरवाही से फिर से कोई अव्यवस्था का सामना ना करना पड़े। इसलिए पुलिस व्यापारियों व आमजनों को कोरोना से बचाव हेतु नियमों का पालन करने को लेकर जागरुक करने का कार्य कर रही है।

12वीं बोर्ड की परीक्षा आयोजित नहीं होगीं: एमपी

मनोज सिंह ठाकुर              

भोपाल। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान आज कहा कि इस वर्ष कोरोना संकट के कारण राज्य माध्यमिक शिक्षा मंडल (एमपी बोर्ड) की ओर से कक्षा बारहवीं (बोर्ड) की परीक्षा आयोजित नहीं की जाएंगी। शिवराज सिंह चौहान ने यहां एक संदेश के जरिए यह घोषणा करते हुए कहा कि कोरोना संकट के बीच बच्चों की जिंदगी हमारे लिए अनमोल है। कॅरियर की चिंता हम बाद में करते हैं। इस समय बच्चों समेत पूरा प्रदेश कोरोना संकट झेल रहा है। ऐसे में बच्चों पर परीक्षाओं का मानसिक बोझ डालना कतई उचित नहीं है। बारहवीं बोर्ड के रिजल्ट किस प्रकार आएंगे। यह तय करने के लिए मंत्रियों का एक समूह बना दिया है। यह समूह विशेषज्ञों से चर्चा करने के बाद आंतरिक मूल्यांकन या अन्य आधारों पर विचार करके रिजल्ट का तरीका तय करेगा। शिवराज सिंह चौहान ने बताया कि हमने दसवीं (बोर्ड) की परीक्षा आयोजित नहीं करने का निर्णय पहले ही लिया है। उनका रिजल्ट आंतरिक मूल्यांकन पर आधार पर जारी करने का निर्णय हुआ है। शिवराज सिंह चौहान ने साथ ही यह भी कहा कि यदि बारहवीं का काेई विद्यार्थी बेहतर परिणाम या परिणाम में सुधार के लिए परीक्षा देना चाहेगा, तो उसके लिए विकल्प खुला रहेगा। कोरोना संकट की समाप्ति के बाद वो बारहवीं की परीक्षा दे सकेगा।

कोरोना मृतकों के आंकड़े को छुपा रहीं सरकार: राहुल

अकांशु उपाध्याय                   

नई दिल्ली। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी तथा पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने कोरोना टीके की भारी कमी को लेकर मोदी सरकार पर हमला करते हुए कहा है कि वह कोरोना से मरने वाले लोगों का सही आंकड़ा नहीं दे रही है। राहुल गांधी ने ट्वीट किया , " भारत सरकार कोरोना से होने वाली मौत के वास्तविक आंकड़े को छुपा रही है।" इससे पहले उन्होंने टीके की कमी को लेकर सरकार पर निशाना साधा और कहा " कोरोना महामारी के ख़िलाफ़ सबसे मज़बूत सुरक्षा कवच सिर्फ़ वैक्सीन है। देश के जन-जन तक मुफ़्त टीकाकरण पहुँचाने के लिए आप भी आवाज़ उठाइए- केंद्र सरकार को जगाए।" प्रियंका गांधी वाड्रा ने फेसबुक पोस्ट में कहा, " आज देश में प्रतिदिन औसतन19 लाख लोगों को वैक्सीन लग पा रही है। केंद्र सरकार की ढुलमुल वैक्सीन नीति ने वैक्सीन वितरण को अधर में लाकर छोड़ दिया है।" उन्होंने कहा , " भारत के लोगों ने आशा की थी कि सबके लिए मुफ्त वैक्सीन की नीति बनेगी लेकिन केंद्र सरकार ने दिया क्या। वैक्सीन केन्द्रों पर ताले, एक देश, वैक्सीन के तीन दाम, अभी तक मात्र 3.4 प्रतिशत जनसंख्या का फुल वैक्सीनेशन, जिम्मेदारी त्याग का भार राज्यों पर डालना, दिशाहीन वैक्सीन नीति।"

दिल्ली के लोगों को ऑक्सीजन संकट झेलना पड़ा

अकांशु उपाध्याय          

नई दिल्ली। जनता दल यूनाइटेड जदयू ने केजरीवाल सरकार की घरों तक शराब पहुँचाने की योजना की तीखी आलोचना करते हुए कहा कि कोरोना महामारी की भविष्य में तीसरी लहर से निपटने की तैयारी करने की बजाए, सरकार मोबाइल एप के जरिए शराब पहुंचाने में ज्यादा दिलचस्पी ले रही है। जदयू के प्रवक्ता सत्य प्रकाश मिश्रा ने आज एक बयान जारी कर कहा कि दिल्ली सरकार को सबसे पहले कोरोना के कारण हुए लॉकडाउन में आम जनता को राशन, रोजगार जाने के कारण और आर्थिक तंगी जैसी समस्या को पहले दूर करना चाहिए था न कि शराब की होम डिलीवरी कैसे हो ? इस बात की चिंता करनी चाहिए थी। कोरोना की दूसरी लहर में जिस तरह दिल्ली के आम लोगों को ऑक्सीजन संकट झेलना पड़ा। इसके लिये दर दर भटकना पड़ा और कई जाने इसकी कमी के कारण चली गयी। इतना ही नहीं रेमडीसीविर इंजेक्शन समेत अन्य दवाइयों और अस्पताल में बेड के लिये जिस संकट से गुजरना पड़ा इसको ध्यान में रखते हुए भविष्य में तीसरी लहर से निपटने की तैयारी करने की बजाए केजरीवाल सरकार मोबाइल एप के जरिए शराब पहुंचाने में ज्यादा दिलचस्पी ले रही है। सत्यप्रकाश मिश्रा ने आरोप लगाया कि दिल्ली सरकार का एक कोरोना एप है। जिस पर व्हाट्सअप है। यदि उस पर कोई सहायता के लिये मैसेज डालता है तो उसका जवाब कभी नहीं आता। लेकिन दूसरी तरफ शराब एप को कारागार बनाने में जो दिलचस्पी केजरीवाल सरकार दिखा रही है। काश कोरोना एप से आम जनता को सीधा सहायता पहुंचाने में भी दिखाते। उन्होंने कहा कि काश केजरीवाल ऑक्सीजन भी उन लोगों तक पहुँचाने में समय पर काम करते ताकि दिल्ली की जनता को एक सिलेंडर की भारी कीमत न चुकानी पड़ती और काफी जिंदगियां भी बचाई जा सकती थी। उन्होंने कहा कि सीएम केजरीवाल ने दूसरी लहर की शुरुआत में ही कह दिया था कि दिल्ली में ऑक्सीजन की कोई कमी नहीं है जिसके कारण वह भीषण कोरोना त्रासदी का सामना ही नहीं कर पाए। अब भी वह शराब की होम डिलीवरी पर फोकस करने की बजाय दिल्ली के आम लोगों को राशन और उनकी आर्थिक तंगी को दूर करने के उपायों पर ज्यादा ध्यान दें। आम आदमी पार्टी की सरकार आम लोगों की आम परेशानियों से दूर होती जा रही है। दिल्ली की जनता ने उन्हें दिल्ली का मुख्यमंत्री बनाया है न कि प्रचार मंत्री। बेहतर हो वह राशन समस्या, रोजागार संकट, आर्थिक तंगी और तीसरी लहर से निपटने पर ध्यान दें। दिल्ली को शराब आधारित आर्थिक नीति पर न धकेले और शराब बटवाने का मसीहा न बने।

संगठन महामंत्री ने कयासों पर लगाया पूर्ण विराम

हरिओम उपाध्याय             

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में कई दिनों तक चले भाजपा नेताओं की बैठक के दौर के बीच योगी आदित्यनाथ सरकार के भविष्य को लेकर लगाए जा रहे तमाम कयासों पर संगठन महामंत्री ने पूर्ण विराम लगा दिया है। उन्होंने एक ट्वीट के जरिए कोरोना वायरस के संक्रमण से आए संकट से निपटने में योगी आदित्यनाथ सरकार की तारीफ की है। बुधवार को भाजपा के संगठन महामंत्री बीएल संतोष ने अपने ट्विटर हैंडल पर ट्वीट करते हुए कोरोना संकट से निपटने के लिए योगी आदित्यनाथ सरकार की तारीफ में कसीदे गढ़े हैं। उन्होंने किसी का नाम लिए बगैर दिल्ली से उत्तर प्रदेश की तुलना करते हुए लिखा है कि एक केंद्र शासित प्रदेश के सीएम राज्य की डेढ़ करोड़ लोगों की आबादी को मैनेज करने में विफल रहे हैं। जबकि उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने 200000000 से भी अधिक आबादी वाले प्रदेश में कोरोना संक्रमण पर काबू प्राप्त किया है। गौरतलब है कि भाजपा के संगठन महासचिव बीएल संतोष राजधानी लखनऊ पहुंचे थे। जहां उन्होंने राज्य सरकार के कई मंत्रियों और पार्टी के वरिष्ठ नेताओं से मुलाकात करते हुए उनसे सरकार के संबंध में फीडबैक प्राप्त किया था। 2 दिनों तक चले बैठकों व मंत्रियों तथा पार्टी नेताओं से मुलाकातों के दौर के बीच इस प्रकार के कयास लगाए जा रहे थे कि भाजपा का केंद्रीय नेतृत्व उत्तर प्रदेश में पार्टी और सरकार के कामकाज को लेकर चिंतित है और इसी के चलते बैठकर आयोजित की गई हैं। एक बैठक में भाजपा के कई नेताओं ने संगठन महामंत्री बीएल संतोष से कहा था कि राज्य के अफसर उनकी कोई सुनवाई नहीं करते हैं। जिसके चलते वह लोगों के कोई कामकाज नहीं करा पा रहे हैं। राजनैतिक क्षेत्रों में इन शिकायतों को पार्टी और सरकार के बीच तालमेल की कमी के तौर पर देखा गया था।

सीमा पर संघर्षविराम का उल्लंघन, गोलाबारी की

श्रीनगर। पडोसी देश पाकिस्तार बार बार मुंह की खाने के बाद भी अपनी नापाक हरकतों से बाज नही आ रहा है। पाकिस्तान ने बुधवार को जम्मू-कश्मीर के अरनिया सेक्टर में अंतरराष्ट्रीय सीमा पर संघर्षविराम का उल्लंघन करते हुए गोलीबारी की। बुधवार को आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि पाकिस्तानी सैनिकों ने बिना किसी उकसावे के आज सुबह अरनिया सेक्टर में अंतरराष्ट्रीय सीमा पर करीब 20 से 25 राउंड की गोलीबारी की। सूत्रों ने बताया कि भारत पाक सीमा पर सुरक्षा और चोकसी के लिये तैनात सीमा सुरक्षा बलों बीएसएफ के जवानों ने पाकिस्तान की इस गोलीबारी का मुंहतोड़ जवाब दिया। पाकिस्तान की गोलीबारी में किसी के हताहत या किसी तरह के नुकसान की कोई सूचना नहीं है। इससे पहले 18 मई को बीएसएफ के जवानों ने सांबा सेक्टर में घूसपैठ की कोशिश को नाकाम कर दिया था और इस दौरान एक घायल घुसपैठिये को पकड़ लिया था। वहीं बीएसएफ ने 14 मई को सीमावर्ती सांबा जिले पाकिस्तान की तरफ से ड्रोन से गिराये गये हथियारों और गोला-बारूद का जखीरा बरामद किया था।

टी-20 विश्व कप का आयोजन संभव हैं या नहीं ?

आबुधाबी। अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) ने भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड को यह तय करने के लिए 28 जून तक का समय दिया है कि वह अक्टूबर-नवम्बर में टी-20 विश्व कप का आयोजन करा सकता है या नहीं। आईसीसी ने मंगलवार को अपनी बोर्ड बैठक में यह फैसला किया। समझा जाता है कि आईसीसी टी-20 विश्व कप को संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) में कराने की तरफ झुक रही है और उसने ओमान के रूप में मध्य पूर्व में एक सह मेजबान और ढूंढा है। यदि टूर्नामेंट को भारत से बाहर ले जाया जाता है। आईसीसी बोर्ड ने भारतीय बोर्ड के अध्यक्ष सौरभ गांगुली से समय बढ़ाने के लिए आग्रह मिलने के बाद बीसीसीआई को 28 जून तक का समय दिया है। ताकि वह यह तय कर ले कि क्या वे विश्व कप की मेजबानी कर सकते हैं या नहीं ? आतंरिक रूप से आईसीसी बोर्ड ने यह निष्कर्ष निकाला है कि टूर्नामेंट को यूएई में कराना ज्यादा सुरक्षित होगा। जबकि बीसीसीआई के पास मेजबानी अधिकार रहेंगे।

दिल्ली में कोरोना संक्रमण की दर 0.78 प्रतिशत हुईं

अकांशु उपाध्याय         

नई दिल्ली। दिल्ली में कोविड-19 के 576 नये मामले सामने आने के बाद दिल्ली में संक्रमण की दर 0.78 प्रतिशत हो गई और बुधवार को 103 और मरीजों की बीमारी से मौत हो गई। यह लगातार तीसरा दिन है, जब राष्ट्रीय राजधानी में संक्रमण की दर एक प्रतिशत से कम दर्ज की गई है। दिल्ली में मंगलवार को कोविड-19 के ढाई महीनों में सबसे कम 623 मामले सामने आए थे और 62 लोगों की मौत हुई थी जबकि संक्रमण की दर एक प्रतिशत से नीचे थी। शहर में सोमवार को कोरोना वायरस संक्रमण के 648 मामले सामने आए थे और 86 मरीजों की मौत हुई थी। जबकि संक्रमण दर 0.99 प्रतिशत थी। वहीं, रविवार को राष्ट्रीय राजधानी में 946 नये मामले सामने आए थे और 78 मरीजों की मौत हुई थी। देश में कोविड-19 की दूसरी लहर का प्रसार होने के बाद, दिल्ली में रोजाना के मामलों और मौतों में 19 अप्रैल के बाद से वृद्धि देखी गई थी। तीन मई को शहर में एक दिन में सर्वाधिक 448 मरीजों की मौत हुई थी। हालांकि, पिछले कुछ दिनों से संक्रमण के दैनिक मामलों और मरीजों की मौत की संख्या में गिरावट देखी जा रही है। स्वास्थ्य बुलेटिन के मुताबिक, पिछले 24 घंटों में 1,287 लोग संक्रमण से स्वस्थ हुए हैं। दिल्ली में आज सामने आए कोविड-19 के 576 मामलों के बाद कुल संक्रमितों की संख्या बढ़कर 14,27,439 हो गई है, जबकि मृतक संख्या बढ़कर 24,402 हो गई है। संक्रमण से मृत्यु दर 1.71 प्रतिशत है। इलाज करा रहे लोगों की संख्या 9,364 है जिनमें से 4,531 लोग घरों में पृथकवास में हैं।

विकास की दावेदारी, बदहाली का जिम्मेदार कौन ?

अश्वनी उपाध्याय   
गाजियाबाद। स्थानीय जनप्रतिनिधि अपने हर सम्मेलन व भाषणो में लोनी में विकास की गंगा बहाने के दावे करते नजर आते है। वहीं लोनी के मुख्य रास्ते अपनी बदहाली बयां कर रहे हैं। सर्वाधिक आवाजाही वाले मुख्य रास्तों पर सबसे ज्यादा मुसीबतें बढ़ गईं। अंतर राज्य राजमार्ग दिल्ली-सहारनपुर रोड टूट जाने से दलदल मेंं ने तब्दील हो गई हैै। जिसके बाद लोगों की दिक्कतें और ज्यादा बढ़ गईं।
बता दें कि कुछ दिन पूर्व हुई बरसात में अशोक विहार वार्ड 50 और 47 के मुख्य रास्ते पर लगे पानी से गलियाँ दलदल में तब्दील हो गई थी। जिसपर प्रतिक्रिया स्वरूप कॉलोनीवासियों ने धान बोकर विरोध जताया था। लोनी की एक कॉलोनी में सोमवार रात तालाब का पानी नींव में भरने से एक मकान गिर गया। गनीमत रही कि घटना के समय मकान में कोई मौजूद नहीं था। नहीं तो बड़ा हादसा हो सकता था।
क्या कहते है अधिकारी ?
उपजिलाधिकारी लोनी, शुभांगी शुक्ला ने दिल्ली सहारनपुर रोड को जल्द गड्ढा मुक्त कराने की बात कही।

जलजमाव से गिरा मकान, एसडीएम ने दिए निर्देश

अश्वनी उपाध्याय   
गाजियाबाद। नगर पालिका परिषद लोनी की अशोक विहार कॉलोनी निवासी फुरकान ने बताया कि तालाब से कुछ दूरी पर उनका मकान है। उन्होंने बताया कि करीब 1 वर्ष पूर्व दो कमरे, रसोई, बाथरूम का निर्माण कराया था, लेकिन प्लास्टर का कार्य शेष बचा हुआ था। जिससे वह मकान में नहीं रह रहे थे। आरोप है कि जल निकासी की समुचित व्यवस्था ना होने के कारण कॉलोनी में मौजूद घरों का पानी तालाब में एकत्रित हो रहा है, जिसके चलते तालाब ओवरफ्लो हो गया है और दूषित पानी आसपास की गलियों में भरा हुआ है। सोमवार रात नींव में पानी भरने से मकान भरभरा कर गिर गया। 
मंगलवार को लोगों ने अधिकारियों पर कॉलोनी में जल निकासी की समुचित व्यवस्था ना कराए जाने का आरोप लगाते हुए उप जिलाधिकारी से शिकायत की। उप जिलाधिकारी शुभांगी शुक्ला का कहना है कि पालिका अधिकारियों को जल निकासी के लिए निर्देशित किया गया।

मुख्यमंत्री एवं जिलाधिकारी के नाम ज्ञापन सौंपा

अश्वनी उपाध्याय  
गाजियाबाद। भारतीय व्यापार मंडल लोनी इकाई के पदाधिकारियो ने लोनी उपजिलाधिकारी के कार्यालय में पहुंचकर मुख्यमंत्री एवं जिलाधिकारी के नाम ज्ञापन सौंपा। उन्होंने बताया कि सभी व्यापारी बाजार खुलने का इंतजार कर रहे थे, लेकिन सरकार के निर्णय से व्यापारियों की दिक्कतें बढ़ेंगी। दुकान व शोरूम न खुलने से व्यापार ठप है। इसके बावजूद व्यापारियों को बैंक की किस्त, दुकान का किराया, बिजली बिल देना पड़ रहा है। दुकानदार के ऊपर उसके परिवार के साथ उसके यहां काम करने वाले सहयोगी कर्मचारी के परिवार के पालन पोषण की भी जिम्मेदारी है। 
व्यापार मंडल की लोनी इकाई ने व्यापारियों पर पुलिस के द्वारा हो रहे उत्पीड़न को बंद करने के साथ व्यापारियों पर किए हुए मुकदमा वापस लेने की मांग भी की। उन्होंने कहा जो कुछ व्यापारीगण गिरफ्तार किए गए हैं उन्हें भी छोड़ा जाए। व्यापार मंडल के पदाधिकारियों ने प्रति निकाय 100 पॉजिटिव से कम केस होने पर परिस्थितियों का आंकलन कर दुकान खोलने का आग्रह किया हैं।
व्यापारी की लॉकडाउन सहने की क्षमता खत्म हो चुकी है उनके व्यापार को तत्काल खोला जाए वरना व्यापारी भुखमरी की कगार आ जाएगा और लॉकडाउन खुलवाने के लिए आंदोलन करने के लिए विवश होगा।
इस दौरान ज्ञापन देने वालों में प्रदेश मंत्री देवेंद्र ढाका, सदस्यगण व्यापारी मनीष मित्तल, सुरेश कुमार, अजय गर्ग, डैनी ठाकुर, राहुल भारद्वाज, राकेश गुप्ता, आदि व्यापारी लोग मौजूद रहे। उपजिलाधिकारी शुभांगी शुक्ला ने व्यापार मंडल के पदाधिकारियों को ज्ञापन जाने का आश्वासन दिया है।

छात्रों के हित में हो, सरकार वही निर्णय लें: गांधी

अकांशु उपाध्याय   

नई दिल्ली। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाद्रा ने बुधवार को कहा कि राज्य सरकारों एवं प्रादेशिक शिक्षा बोर्डों को, केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) की तरह 12वीं कक्षा की परीक्षा कराने के संदर्भ में छात्र-हितैषी निर्णय करना चाहिए।

उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘सीबीएसई की तरह राज्यों के बोर्डों को भी छात्रों, अभिवावकों, शिक्षकों की बात सुनकर 12वीं की परीक्षा के संदर्भ में छात्र-हितैषी निर्णय लेने चाहिए। मेरी राज्यों के मुख्यमंत्रियों, शिक्षा मंत्रियों से अपील है कि अपने निर्णयों में छात्रों की आवाज, उनके स्वास्थ्य की रक्षा को महत्व दें।

’’प्रियंका गांधी ने कोरोना महामारी की दूसरी लहर के कारण सीबीएसई की 12वीं कक्षा की बोर्ड परीक्षा रद्द किए जाने के बाद मंगलवार को छात्रों को बधाई दी थी और कहा था कि आखिरकार उनकी आवाज सुनी गई।

गौरतलब है कि कोरोना महामारी की दूसरी लहर के मद्देनजर, केंद सरकार ने मंगलवार को सीबीएसई की 12वीं कक्षा की बोर्ड परीक्षा रद्द करने का निर्णय लिया। यह फैसला प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई एक महत्वपूर्ण बैठक के बाद लिया गया।

वैक्सिनेशन: एचसी ने सरकार को फटकार लगाईं

अकांशु उपाध्याय                    

नई दिल्ली। दिल्ली हाईकोर्ट ने कोरोना के वैक्सिनेशन को लेकर केंद्र सरकार को कड़ी फटकार लगाई है। जस्टिस विपिन सांघी की अध्यक्षता वाली बेंच ने कहा अगर ऐसे ही हालात रहे और हमने खुद कार्रवाई नहीं की तो भगवान भी हमारी मदद नहीं कर पाएगा। हाईकोर्ट ने केंद्र सरकार से पूछा कि आप के पास वैक्सीन नहीं है तो आप ऐसी घोषणाएं क्यों करते हैं? कोर्ट ने कहा कि हालत यह है कि देश के युवाओं को वैक्सीन उपलब्ध नहीं हो रही है। जबकि उम्रदराज लोगों को वैक्सीन दी जा रही है। हमें समझना होगा कि युवा ही देश का भविष्य है, उनको सुरक्षित करना जरूरी है।80 साल की उम्र के लोग देश को आगे नहीं ले जाएंगे, देश को आगे बढ़ाने की जिम्मेदारी युवाओं पर है। कोर्ट ने कहा कि केंद्र सरकार के संसाधन गंगा की तरह बह रहे हैं। पेट्रोल की कीमत बढ़ाने की क्या जरूरत थी। लोगों के पास पैसे नहीं हैं, हमें उनका ध्यान रखना चाहिए। कोर्ट ने कहा कि हम बड़े भारी मन से ये आदेश दे रहे हैं। केंद्र की ओर से वकील कीर्तिमान सिंह ने कहा कि अगर दवा का कोई स्रोत हो तो इसे आगे लाया जाए। तब दिल्ली सरकार की ओर से वकील राहुल मेहरा ने कहा कि हमें इसे लेकर कोई ठोस जानकारी नहीं है, वेणुगोपाल के पास है। दिल्ली सरकार उसे आगे बढ़ाएगी। तब कीर्तिमान सिंह ने कहा कि अगर सभी सहयोग करेंगे तो काम आसान हो जाएगा। सुनवाई के दौरान वकील वेणुगोपाल ने कहा कि अगर दिल्ली सरकार खरीदना चाहेगी तो भी उसे अनुमति नहीं मिलेगी। तब कोर्ट ने कहा कि हमने ये कब कहा। हमें किसी को अनुमति देने की जरूरत नहीं है। तब मेहरा ने कहा कि राज्यों को इस बात का अधिकार मिलना चाहिए कि जहां से भी दवाई लानी हो वो लेकर आएं लेकिन केंद्र इस पर ध्यान नहीं दे रहा है। तब कोर्ट ने कहा कि हम ये नहीं चाहते हैं।

नौसेना: जहाज खर्ग को बचाने के प्रयास विफल हुएं

तेहरान। ईरान की नौसेना के सबसे बड़े जहाज में ओमान की खाड़ी में आग लग गई और वह बुधवार को डूब गया। ‘द फार्स’ और ‘तस्नीम’ समाचार एजेंसियों ने बताया कि जहाज खर्ग को बचाने के प्रयास विफल हो गए। इस जहाज का नाम खर्ग द्वीप के नाम पर रखा गया है, जो ईरान का मुख्य तेल टर्मिनल है। फार्स ने बताया कि आग देर रात करीब दो बजकर 25 मिनट पर लगी और दमकलकर्मियों ने इसे बुझाने की कोशिश की। यह जहाज ओमान की खाड़ी में तेहरान से करीब 1,270 किलोमीटर दूर दक्षिणपूर्व में जास्क बंदरगाह के समीप डूब गया। ईरान के सोशल मीडिया पर चल रही तस्वीरों में जीवनरक्षक जैकेट पहने नौसैनिकों को जहाज को निकालते हुए देखा जा सकता है और उनके पीछे आग लगी हुई है। सरकारी टेलीविजन और अर्धसरकारी समाचार एजेंसियां खर्ग को प्रशिक्षु जहाज बताते हैं। फार्स ने बुधवार सुबह जहाज से उठते काले धुएं की वीडियो जारी की है। ईरानी अधिकारियों ने खर्ग में आग लगने की वजह नहीं बतायी है। ओमान की खाड़ी में जहाजों को निशाना बनाते हुए 2019 में शुरू हुए रहस्यमयी धमाकों के सिलसिले में यह ताजा घटना है। खर्ग जहाज का डूबना ईरान के लिए ताजा नौसेना हादसा है। 2020 में ईरानी सेना के अभ्यास के दौरान जास्क बंदरगाह के समीप एक मिसाइल गलती से एक नौसैन्य जहाज से टकरा गयी थी। जिससे 19 नाविकों की मौत हो गयी थी और 15 घायल हो गए थे। 2018 में ईरानी नौसेना एक युद्धक जहाज कैस्पियन सागर में डूब गया था।

12वीं कक्षा की परीक्षा रद्द, बाध्य होना पड़ा: अखिलेश

हरिओम उपाध्याय                   

लखनऊ। समाजवादी पार्टी (सपा) अध्यक्ष अखिलेश यादव ने बुधवार को कहा कि परीक्षार्थियों और अभिभावकों के दवाब के आगे केन्द्र की असंवेदनशील भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सरकार को आखिरकार सीबीएसई की 12वीं कक्षा की परीक्षा को रद्द करने के लिए बाध्य होना पड़ा। अखिलेश यादव ने कहा कि अब अन्य बोर्ड और राज्य बोर्ड को भी परीक्षा रद्द करने के फैसले में देरी नहीं करनी चाहिये। उनकी पार्टी पहले ही कहती आयी है कि वैक्सीनेशन की प्रक्रिया पूरी हुये बिना परीक्षा कराना परीक्षार्थियों की जान को जोखिम में डालने वाला होगा। उन्होने ट्वीट किया " परीक्षार्थियों-अभिभावकों के दबाव के आगे आख़िरकार असंवेदनशील भाजपा सरकार को झुकना ही पड़ा और सीबीएसई 12वीं की परीक्षा रद्द किये जाने का फ़ैसला उन्हें लेना ही पड़ा। अब इसी आधार पर अन्य बोर्ड व राज्य बोर्ड की परीक्षाएँ भी रद्द की जानी चाहिए। "गौरतलब है कि केन्द्र सरकार ने मंगलवार को सीबीएसई की 12वीं कक्षा की परीक्षा रद्द करने की घोषणा की थी जिस पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुये उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री डा दिनेश शर्मा ने इसे उचित फैसला बताया था और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मिलकर यूपी बोर्ड की 12वीं की परीक्षा के बारे में जल्द फैसला लेने का भरोसा दिलाया था।

राज्य बोर्ड की परीक्षाएं रद्द करने का फैसला किया

राणा ओबराय                

चंडीगढ़। सीबीएसई और सीआईएसई के नक्शे कदम पर चलते हुए हरियाणा सरकार ने राज्य बोर्ड की 12वीं कक्षा की परीक्षाएं रद्द करने का फैसला किया है। जिसके चलते एक नीति बनाकर बारहवीं कक्षा के छात्र प्रमोट कर दिए जाएंगे। प्रधानमंत्री की अध्यक्षता में हुई बैठक के बाद सीबीएसई और सीआईएसई की 12वीं बोर्ड की परीक्षाएं रद्द कर दिए जाने का फैसला लिए जाने के बाद हरियाणा सरकार ने भी केंद्र की तर्ज पर चलते हुए राज्य बोर्ड की 12वीं कक्षा की परीक्षाएं रद्द किए जाने का ऐलान किया है। शिक्षा मंत्री कंवर पाल ने यह जानकारी देते हुए बताया है कि हमने भी राज्य में हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड की 12वीं कक्षा की परीक्षाएं रदद करने का निर्णय लिया है। उन्होंने कहा है कि हम केंद्र द्वारा सीबीएसई और सीआईएसई बोर्ड की 12वीं कक्षा की परीक्षाएं रद्द किए जाने के फैसले के साथ हैं। जिसके चलते हमने भी छात्र-छात्राओं के जीवन को ध्यानार्तगत रखते हुए राज्य बोर्ड की परीक्षाएं रद्द करने का फैसला किया है।

5 करोड़ से ज्यादा टेस्ट करने के आंकड़े को पार किया

हरिओम उपाध्याय                  

लखनऊ। टेस्ट, ट्रैक और ट्रीट के मंत्र के साथ कोरोना संक्रमण को काफी हद तक काबू कर चुके उत्तर प्रदेश ने मंगलवार तक पांच करोड़ से ज्यादा कोरोना टेस्ट करने के आंकड़े को पार कर लिया। अपर मुख्य सचिव सूचना नवनीत सहगल ने बुधवार को बताया कि मंगलवार शाम तक प्रदेश में पांच करोड़ से ज्यादा कोरोना टेस्ट हो चुके थे जिसमें पिछले 24 घंटे में 3.32 लाख टेस्ट शामिल हैं। यूपी यह उपलब्धि हासिल करने वाला देश का पहला राज्य है जबकि दूसरे नम्बर का प्रदेश अब तक सिर्फ 3.5 करोड़ टेस्ट ही कर पाया है। उन्होने बताया कि राज्य में पिछले 24 घंटो में कोरोना संक्रमण के 1500 नये मामले सामने आये है। राज्य मेंं फिलहाल कुल सक्रिय केसों की संख्या 28000 रह गई है। जबकि रिकवरी रेट 97.1 फीसदी हो गया है।

वैक्सीन के भारत आने की राह को आसान किया

अकांशु उपाध्याय                   

नई दिल्ली। कोरोना वायरस के संक्रमण के बढ़ते हुए मामलों को थामने के लिए देश में टीकाकरण के काम में तेजी लाने को ध्यान में रखते हुए केंद्र सरकार ने बड़ा कदम उठाते हुए देश में इनके अलग से ट्रायल की शर्तों को समाप्त कर दिया है। बुधवार को देश में कोरोना संक्रमण से बचाव की विदेशी वैक्सीन के भारत आने की राह को आसान कर दिया गया है। भारत की दवा नियामक संस्था अर्थात डीजीसीआई ने अब फाइजर और माडर्ना जैसी विदेशी कंपनियों की वैक्सीन को जल्द से जल्द भारत लाने के लिए इनके अलग से ट्रायल कराने की शर्तों को खत्म कर दिया है। अर्थात विश्व स्वास्थ्य संगठन या अमेरिकी एफडीए से जिन वैक्सीन को आपातकालीन इस्तेमाल की मंजूरी मिल चुकी है। उन्हें भारत में ट्रायल के दौर से नहीं गुजरना होगा। इस संबंध में डीजीसीआई के मुखिया वीपी सोमानी की ओर से नोटिस भी जारी कर दिया गया है। नोटिस के मुताबिक हाल ही में कोरोना के मामलों की तेज रफ्तार के बीच भारत में बढ़ती कोरोना वैक्सीन की मांग को देखते हुए एनईजीवीएसी के सुझाव के आधार पर अब ऐसी किसी भी वैक्सीन को भारत में ट्रायल के तौर से नहीं गुजरना पड़ेगा। 

जिन्हें पहले से ही यूएसएफडीए, ईएमए, यूके एमएचआरए और पीएमडीए जापान अथवा विश्व स्वास्थ्य संगठन की ओर से आपातकालीन इस्तेमाल की मंजूरी दी जा चुकी है। फाइजर और मॉडर्ना उन विदेशी कंपनियों में शामिल हैं, जिन्होंने सरकार से क्षतिपूर्ति और स्थानीय ट्रायलों से छूट देने की बात की थी। हालांकि, सरकार ने अभी तक किसी भी गंभीर दुष्प्रभाव के लिए मुआवजे से क्षतिपूर्ति या दायित्व पर कोई फैसला नहीं किया है। लेकिन भारत में ट्रायल न करने की बात मान ली गई है। डीजीसीआई के नोटिस के मुताबिक, अब अगर विदेशी वैक्सीन को किसी अन्य देश में या किसी स्वास्थ्य संस्था से मंजूरी मिली हुई है, तो भारत में उसकी गुणवत्ता और असर जांचने के लिए ट्रायल किए जाने की जरूरत नहीं होगी।


देशवासियों को वैक्सीन की खुराक के 2 टीके लगेगें

अकांशु उपाध्याय                  

नई दिल्ली। कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव एवं उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गांधी वाड्रा ने देश में कोरोना वैक्सीन की नीति पर चिंता जताते हुए कहा है कि रोजाना बदल रहे वैक्सीनेशन के नियमों एवं वैक्सीन केंद्रों पर लटके तालों को देखकर कहीं से भी ऐसा नहीं लग रहा है कि केंद्र कोरोना को लेकर लोगों के स्वास्थय के प्रति गंभीर है और देशवासियों को जल्द ही वैक्सीन की दोनों खुराक के टीके लग जाएंगे। बुधवार को अपने फेसबुक अकाउंट पर पोस्ट करते हुए कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव एवं उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गांधी वाड्रा ने कहा है कि पिछले वर्ष लालकिले की प्राचीर से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा की गई घोषणा के बाद देशवासियों को उम्मीद थी कि सभी लोगों को समय से कोरोना की दोनों डोज मिल जाएगी और सरकार सबके लिए मुफ्त वैक्सीन की नीति बनाएगी। लेकिन, केंद्र सरकार की ढुलमुल नीतियों की वजह से लोगों को समय से कोरोना से बचाव की वैक्सीन की दोनों खुराक मिलना कहीं से भी संभव नहीं लग रहा है। क्योंकि वैक्सीन के अभाव में वैक्सीन केंद्रों पर ताले लटके हुए हैं। एक ही देश में एक ही वैक्सीन के 3-3 दाम है। केंद्र सरकार की ढुलमुल वैक्सीनेशन नीति के चलते अभी तक देश की 3.4 प्रतिशत जनसंख्या का ही वैक्सीनेशन हो पाया है। केंद्र ने वैक्सीनेशन की जिम्मेदारी से भागते हुए अपना भार राज्यों पर डाल दिया है। ऐसी दिशाहीन कोरोना वैक्सीन नीति से पता नहीं किस प्रकार सभी देशवासियों को कोरोना से बचाव की वैक्सीन मिल पाएगी।

विश्व: 35.57 लाख से अधिक लोगों की मौंत, संक्रमण

वाशिंगटन डीसी। विश्वभर में कोरोना वायरस (कोविड-19) का कहर जारी है और अब तक 17.10 करोड़ से अधिक लोग इससे संक्रमित हो चुके है। जबकि 35.57 लाख से ज्यादा लोगों की मौत हो गई है। अमेरिका की जॉन हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी के विज्ञान एवं इंजीनियरिंग केंद्र (सीएसएसई) की ओर से जारी ताजा आंकड़ों के अनुसार दुनिया के 192 देशों एवं क्षेत्रों में संक्रमितों की संख्या बढ़कर 17 करोड़ 10 लाख 46 हजार 311 हो गयी है। जबकि 35 लाख 57 हजार 281 लोगों की इस संक्रमण के कारण मौत हो चुकी है।विश्व में महाशक्ति माने जाने वाले अमेरिका में कोरोना वायरस की रफ्तार थोड़ी धीमी पड़ी है। हालांकि यहां संक्रमितों की संख्या तीन करोड़ 32 लाख 87 हजार 124 हो गयी है और 5.95 लाख से ज्यादा लोगों की इस संक्रमण से मौत हो गयी है। दुनिया में कोरोना संक्रमितों के मामले में भारत दूसरे स्थान पर और मृतकों के मामले में तीसरे स्थान पर है।पिछले 24 घंटों में 1,32,788 नये मामले आने के साथ ही संक्रमितों का आंकड़ा बढ़कर दो करोड़ 83 लाख सात हजार 832 हो गया। इस दौरान दो लाख 31 हजार 456 मरीज स्वस्थ हुए हैं जिसे मिलाकर देश में अब तक दो करोड़ 61 लाख 79 हजार 085 लोग इस महामारी को मात दे चुके हैं। सक्रिय मामले 1,01,875 कम होकर 17 लाख 93 हजार 645 रह गये हैं। इस दौरान 3,207 मरीज अपनी जान गंवा बैठे और इस बीमारी से मरने वालों की कुल संख्या बढ़कर तीन लाख 35 हजार 102 हो गयी है। ब्राजील संक्रमितों के मामले में अब तीसरे स्थान पर है। इस देश में कोरोना संक्रमण के मामले फिर से बढ़ रहे हैं और अभी तक इससे 1.66 करोड़ से ज्यादा लोग प्रभावित हुए हैं जबकि 4.65 लाख से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। ब्राजील कोरोना से मौतों के मामले में विश्व में दूसरे स्थान पर है। संक्रमण के मामले में फ्रांस चौथे स्थान पर है जहां कोरोना वायरस से अब तक 57.38 लाख से अधिक लोग प्रभावित हुए हैं जबकि 1.09 लाख से अधिक मरीजों की मौत हो चुकी है। कोरोना प्रभावितों के मामले में तुर्की रूस से आगे निकल गया है और यहां कोरोना वायरस से संक्रमितों की संख्या 52.56 लाख से ज्यादा हो गयी है और 47,656 मरीजों की मौत हो चुकी है। रूस में कोरोना संक्रमितों की संख्या 50.22 लाख से अधिक हो गई है और इसके संक्रमण से 1.19 लाख से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है। ब्रिटेन में कोरोना वायरस प्रभावितों की कुल संख्या 45.06 लाख से अधिक हो गयी है और 1.28 लाख से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है। मृतकों के मामले में ब्रिटेन पांचवें स्थान पर है। इटली में कोरोना प्रभावितों की संख्या 42.20 लाख से अधिक हो गयी है और 1.26 लाख से अधिक लाेगों की जान जा चुकी है। कोरोना से प्रभावित होने के मामले में अर्जेंटीना ने जर्मनी को पीछे छोड़ दिया है। अर्जेंटीना में संक्रमितों की संख्या बढ़कर 38.17 लाख से अधिक हो गयी है तथा मृतकों की संख्या 78,733 है। जर्मनी में वायरस की चपेट में आने वालों की संख्या 36.92 लाख से अधिक हो गई है और 88,781 लोगों की मौत हो चुकी है। स्पेन में इस महामारी से 36.82 लाख से अधिक लोग प्रभावित हुए हैं और 79,983 लोगों की मौत हो चुकी है। कोलंबिया में कोरोना वायरस से 34.32 लाख से अधिक लोग प्रभावित हुए हैं और 89,297 लोगों ने जान गंवाई है। इस बीच ईरान ने पोलैंड को पीछे छोड़ते हुए आगे निकल गया है। ईरान में संक्रमितों की संख्या बढ़कर 29.23 लाख से ज्यादा हो गयी है तथा मृतकों का आंकड़ा 80,327 पहुंच गया है। पोलैंड में कोरोना से 28.72 लाख से अधिक लोग प्रभावित हुए हैं और इस महामारी से 73,856 लोग जान गंवा चुके हैं। मैक्सिको में कोरोना से 24.20 लाख से अधिक लोग संक्रमित हुए हैं और यह देश मृतकों के मामले विश्व में चौथे स्थान पर है जहां अभी तक इस वायरस के संक्रमण से 2.27 लाख से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है। यूक्रेन में संक्रमितों की संख्या 22.63 लाख से अधिक है और 52,742 लोग अपनी जान गंवा बैठे हैं। पेरू में संक्रमितों की संख्या 19.55 लाख के पार पहुंच गयी है। जबकि 69,342 लोगों की जान जा चुकी है। इंडोनेशिया में भी कोरोना संक्रमण के मामले 18.26 लाख के पार पहुंच गये हैं जबकि 50,723 लोगों की मौत हो चुकी है। चेक गणराज्य को पीछे छोड़ते हुए नीदरलैंड उससे आगे निकल आया है। नीदरलैंड में कोरोना से अब तक 16.79 लाख से अधिक लोग संक्रमित हुए हैं और यहां इस महामारी से 17,906 लोगों की मौत हो चुकी है। दक्षिण अफ्रीका में कोरोना वायरस से 16.69 लाख से अधिक लोग प्रभावित हुये हैं और 56,601 लोगों की मौत हो चुकी है। चेक गणराज्य में कोरोना से अब तक 16.61 लाख से अधिक लोग प्रभावित हो चुके हैं और यहां इस महामारी से 30,119 लोग जान गंवा चुके हैं।पड़ोसी देश पाकिस्तान में अब तक कोरोना से 9.24 लाख से अधिक लोग संक्रमित हुए हैं और 20,930 मरीजों की मौत हो चुकी है। अन्य पड़ोसी देश बंगलादेश में भी कोरोना वायरस का प्रकोप जारी है जहां 8.02 लाख से अधिक लोग संक्रमित हुए हैं और 12,660 मरीजों की मौत हो चुकी है। इसके अलावा दुनिया के अन्य देशों में भी कोरोना वायरस के संक्रमण से स्थिति खराब है।


कोरोना: लोगों की मदद के लिए आगे आएं अक्षय

कविता गर्ग                 

मुंबई। बॉलीवुड अभिनेता अक्षय कुमार और उनकी पत्नी ट्विंकल खन्ना कोरोना संकट के समय लोगों की मदद के लिए आगे आएं हैं और उन्होंने अस्पताल में ऑक्सीजन कंसंट्रेटर्स देने के साथ ही कोरोना पीड़ितों की सहायता के लिये एक करोड़ रुपए भी जुटाये है। कोरोना संकट के समय बॉलीवुड के कई सेलेब्स लोगों की मदद के लिए आगे आ रहे हैं। अक्षय कुमार और उनकी पत्नी ट्विंकल खन्ना एक बार फिर से कोरोना काल में पीड़ितों की मदद के लिए आगे आए हैं। ट्विंकल ने सोशल मीडिया पर एक पोस्ट शेयर किया है। जिसमें उन्होंने महामारी से लड़ने के लिए लोगों का धन्यवाद किया है। ट्विंकल खन्ना ने अपने ऑफिशियल ट्विटर हैंडल पर एक तस्वीर शेयर की है। फोटो में एक मैसेज भी लिखा है। जिसमें कहा गया है कि ‘धन्यवाद! आप सभी सहायता से हम अपने लक्ष्य तक पहुंच गए हैं। इंडियन हॉस्पिटल में ऑक्सीजन कंसंट्रेटर पहुंचाने के लिए एक करोड़ रुपए जुटाए हैं। ट्विंकल ने कैप्शन में लिखते हुए बताया है कि ‘आप सभी का धन्यवाद जो आपने फंड जुटाने में मदद की। जहां जरूरत थी वहं तक हमने ऑक्सीजन कंसेंट्रेटर भेजने में पूरी तरह से सफल हुए हैं। ट्विंकल ने कहा कि वह अपडेट पोस्ट कर जानकारी देती रहेंगी।

संपर्क के आरोप में विक्रेता हारिस को गिरफ्तार किया

कविता गर्ग                 

मुंबई। स्वापक नियंत्रण ब्यूरो (एनसीबी) ने अंडरवर्ल्ड डॉन भगोड़े दाऊद इब्राहीम के सहयोगी, गैंगस्टर एवं नशीले पदार्थ के विक्रेता परवेज खान उर्फ चिंकू पठान से कथित संपर्क के आरोप में ड्रग विक्रेता हारिस खान को गिरफ्तार किया है। एनसीबी के एक अधिकारी ने बुधवार को यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि एनसीबी पिछले साल बॉलीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत से जुड़े ड्रग मामले में खान की भूमिका की भी जांच करेगी। हारिस खान को मंगलवार को एनसीबी की टीम ने क्षेत्रीय निदेशक समीर वानखेड़े के नेतृत्व में अंधेरी, लोखंडवाला और बांद्रा में विभिन्न स्थानों पर छापे मारे जाने के बाद गिरफ्तार किया था। अधिकारी ने बताया, “फिलहाल तो एनसीबी ने चिंकू पठान ड्रग्स मामले के सिलसिले में हारिस खान को गिरफ्तार किया है लेकिन राजपूत की मौत से जुड़े ड्रग मामले में भी उसकी भूमिका की जांच की जाएगी।” नशीले पदार्थों की खरीद-बिक्री को रोकने वाली एजेंसी ने अभिनेता की मौत से जुड़े ड्रग्स मामले में राजपूत के साथ उनके फ्लेट में रहने वाले सिद्धार्थ पिठानी को पिछले हफ्ते हैदराबाद से गिरफ्तार किया था। एनसीबी ने रविवार को राजपूत के दो पूर्व घरेलू सहायकों नीरज और केशव से भी मामले के सिलसिले में पूछताछ की थी। सुशांत सिंह राजपूत पिछले साल जून में बांद्रा स्थित अपने घर में फंदे से लटके मिले थे। एनसीबी ने दाऊद इब्राहीम के गुर्गे एवं मृत माफिया डॉन करीम लाला के रिश्तेदार पठान को, नशीले पदार्थों की तस्करी करने वाले गिरोह का इस साल जनवरी में भंडाफोड़ करने के बाद पड़ोस के नवी मुंबई से गिरफ्तार किया था।

विस्फोट: मकान की छत गिरने से 8 लोगों की मौंत

हरिओम उपाध्याय                

गोंडा। जिले के वजीरगंज क्षेत्र में सिलेंडर विस्फोट से मकान की छत गिरने से आठ लोगों की मौत हो गई। जबकि अन्य गंभीर रूप से घायल हो गये। पुलिस अधीक्षक संतोष कुमार मिश्रा ने बुधवार को बताया कि मंगलवार देर रात टिकरी गांव में नूरल हसन के घर में जोरदार धमाका हुआ और मकान पूरी तरह जमींदोज हो गया। घटना की सूचना मिलते ही मौके पर पहुंची पुलिस ने मलबा हटवाकर पीड़ितों को बाहर निकलवाया और अस्पताल पहुंचाया गया। जहां डाक्टरों ने इनमें आठ को मृत घोषित कर दिया जबकि सात की हालत गंभीर बनी हुई है। मृतकों में दो पुरुष ,दो महिलाएं और तीन बच्चे शामिल हैं। एसपी संतोष कुमार मिश्र आईजी राकेश सिंह मौके पर कैंप कर रहे हैं।एक जेसीबी और पोकलैंड मशीन से मलबे को हटाया गया है। विस्फोट के कारणों का पता लगाने के लिए फॉरेंसिक टीम को लगाया गया है। उन्होंने बताया कि प्रथम दृष्टया घरेलू सिलेंडर के विस्फोट से छत गिरना बताया जा रहा है। फिलहाल घटना की गहराई से छानबीन की जा रही है। शवों को पोस्टमार्टम के लिये भेज दिया गया हैं।

बरेली: 6,760 लोगों की जांच की गई, कोरोना संक्रमण

संदीप मिश्र              

बरेली। जिले में कोरोना संक्रमण की रफ्तार कम हो गई है। मंगलवार को जिले में 6760 लोगों की जांच की गई।जिसमें से 25 मरीजों में कोरोना की पुष्टि हुई है। 6735 लोगों में संक्रमण नहीं पाया गया है। स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी रिपोर्ट के अनुसार, किसी भी संक्रमित की मौत नहीं हुई। विभागीय अधिकारियों की ओर से संक्रमितों को होम आइसोलेट कर दिया गया है। संक्रमितों में मीरगंज, जसौली, टायतपुर, राजेंद्र नगर, सदर, आवंला, शेखूपुर, शाहगर बहेडी, गुआरी, अब्बास नगर, कुरला, राम वटिका कालोनी, इनायतपुर, गंगापुल, गोपालपुर, निबाद, भरतौल, मथुरापुर, प्रेमनगर, रेलवे कार्यालय, रेलवे कालोनी, मढ़ीनाथ, टिसुआ आदि में संक्रमित निकले हैं। कोरोना से बचाव को वैक्सीनेशन कराने के लिए युवाओं का जोश बढ़ता जा रहा है। मंगलवार को भी टीकाकरण केंद्रों पर युवाओं की भीड़ रही। 45 साल से अधिक उम्र के लोगों में भी टीका लगवाने को लेकर उत्साह दिखाई दिया। जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डॉ. आरएन सिंह के मुताबिक मंगलवार को जिले में 9877 लोगों ने कोरोना से बचाव के लिए टीका लगवाया। स्वास्थ्यकर्मियों और फ्रंट लाइन वर्कर्स को वैक्सीन की पहली और दूसरी डोज लगाई गई। 18 से 44 साल के लोगों को वैक्सीन की पहली डोज लगी। 45 साल से अधिक उम्र के लोगों को पहली और दूसरी डोज लगाई। जिले में 18 साल से 44 साल के लोगों को वैक्सीन लगाने का 8980 का लक्ष्य रखा गया था। इसमें से 7775 युवाओं ने सेंटरों पर पहुंचकर टीका लगवाया। करीब 72 फीसद युवा वैक्सीन लगवाने पहुंचे। वही, 45 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों के टीकाकरण का आंकड़ा भी बढ़ गया। इस आयु वर्ग में पांच हजार लोगों को टीका लगाने का लक्ष्य रखा गया था। इनमें से 2122 लोगों को टीका लगाया गया। यानी करीब 42 फीसद लोगों ने टीका लगवाया।

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण 

1. अंक-291 (साल-02)
2. बृहस्पतिवार, जून 03, 2021
3. शक-1984, ज्येठ, कृष्ण-पक्ष, तिथि-नवमी, विक्रमी सवंत-2078।
4. सूर्योदय प्रातः 05:50, सूर्यास्त 07:11।
5. न्‍यूनतम तापमान -15 डी.सै., अधिकतम-35+ डी.सै.।
6.समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है।
7.स्वामी, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी।
8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102।
9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.-20110
http://www.universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
संपर्क सूत्र :- +919350302745  
                     (सर्वाधिकार सुरक्षित)

कोच लोधगर का दिल का दौरा पड़ने से निधन हुआ

मिनाक्षी लोढी        कोलकाता। पश्चिम बंगाल के पूर्व स्पिनर और मिजोरम अंडर-19 टीम के मुख्य कोच मुर्तजा लोधगर का शुक्रवार की रात को विशाखापट्ट...