सोमवार, 13 अप्रैल 2020

वायरसः बचाव के लिए किया छिड़काव

कोरोना वायरस से बचाव के लिए किया जा रहा सैनिटाइज


नगर पालिका परिषद द्वारा प्रतिदिन लगातार कराया जा रहा दवा का छिड़काव


बिंदकी फतेहपुर। कोरोनावायरस संक्रमण से बचाव के लिए नगर पालिका परिषद द्वारा प्रतिदिन लगातार सैनिटाइजेशन का काम कराया जा रहा है। नगर के लगभग सभी वार्डों में प्रतिदिन दवा का छिड़काव कराया जा रहा है। नालियों के अलावा घरों के पास दरवाजों में तथा बरामदे में भी सैनिटाइज किया जा रहा है।


कोरोनावायरस का संक्रमण देश और प्रदेश में जैसे-जैसे अपने पांव पसारता जा रहा है। वैसे ही शासन-प्रशासन के लिए चिंता का विषय बनता जा रहा है। इसी के चलते नगर पालिका परिषद द्वारा प्रतिदिन लगातार एक पखवारे से सैनिटाइजेशन का काम किया जा रहा है। इसी के चलते रविवार को भी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के अलावा ललौली चौराहा ललाई रे रोड बराती नगर के अलावा कुंवरपुर रोड एवं बनारसी धाम सहित तमाम इलाकों में दवा का छिड़काव कर सैनिटाइज किया गया सफाई कर्मचारियों ने नगर के लगभग सभी 25 वार्डों में दवा का छिड़काव किया नालियों खड़ंजा के अलावा लोगों के घरों के सामने दरवाजों के पास तथा बरामदे में भी सैनिटाइज करने का काम किया ताकि कोरोनावायरस जैसे खतरनाक संक्रमण से बचा जा सके।


पीएम-सीएम योगी ने दी 'शुभकामनाएं'

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बैशाखी के अवसर पर लोगों को शुभकामनाएं देते हुए सभी के जीवन में नई ऊर्जा और नए उत्साह के संचार की कामना की है। मोदी ने सोमवार को ट्वीट किया,“बैसाखी के पावन अवसर पर देशवासियों को बहुत-बहुत शुभकामनाएं। नई उमंगों से जुड़ा यह त्योहार सभी के जीवन में नई ऊर्जा और नए उत्साह का संचार करे।


उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी बैसाखी पर्व पर शुभकामनाएं देते हुये कहा कि यह पर्व भारत की समृद्ध कृषक परम्परा और बहुआयामी संस्कृति का प्रतीक है। उन्होंने कहा कि यह पर्व समाज की उन्नति में किसानों के योगदान के प्रति कृतज्ञता प्रकट करने का सबसे बडा अवसर है। योगी ट्वीट कर कहा “ सुख, समृद्धि व उत्साह से पूरित महापर्व बैसाखी भारत की समृद्ध कृषक परम्परा और बहुआयामी संस्कृति का प्रतीक है। यह पर्व, समाज की उन्नति में कृषकों के योगदान के प्रति कृतज्ञता प्रकट करने का एक अवसर है। सुख,शांति और समृद्धि का संदेश देती बैसाखी की सभी देशवासियों को अनंत शुभकामनाएं।


284 लोगों की मौत, 7028 संक्रमित

अदीस अबाबा। अफ्रीका में कोरोना वायरस ‘कोविड 19’ का प्रकोप बढ़ता ही जा रह है और इस वायरस के चपेट में आने से अबतक 284 लोगों की मौत हो गयी है और करीब 7028 लोग संक्रमित पाए गए है। अफ्रीका सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (अफ्रीका सीडीसी) ने शुक्रवार को यह जानकारी दी। सीडीसी 55 अफ़्रीकी सदस्यीय की एक विशेष एजेंसी है। उसने बताया कि कोरोना अबतक करीब 50 अफ़्रीकी देशों में फ़ैल चूका है।


सीडीसी ने बताया कि दक्षिण अफ्रीका में कोरोना के 1462 मामले, अल्जीरिया में 847 और मिस्र में 779 मामले दर्ज किये गए है। उन्होंने बताया कि महाद्वीप पर अबतक 779 मरीज पूरी तरह से ठीक हो गए हैं। पिछले 24 घंटों के दौरान मृतकों की संख्या बढ़कर 221 से 284 हो गयी है।अफ़्रीकी संघ ने इस माहमारी के खतरे को देखते हुए 27 जनवरी को ही अपने आपातकालीन संचालन केंद्र और अपने हादसे प्रबंधन प्रणाली को सक्रिय कर दिया था।


1 किलो हेरोइन जब्त, 2 आरोपी काबू

राणा ओबराय

हरियाणा पुलिस ने करोड़ों रुपये की 1 किलो हेरोइन करी जब्त, दो आरोपी भी काबू


चंडीगढ़/ हिसार। हरियाणा पुलिस की स्पेशल टास्क फोर्स ने (एसटीएफ) ने मादक पदार्थ तस्करों के खिलाफ बडी कार्रवाई करते हुए जिला हिसार से मुठभेड़ के बाद दो आरोपियों को काबू कर उनके कब्जे से 1 किलोग्राम हेरोइन बरामद की है। पुलिस ने इस सिलसिले में एक वाहन को भी जब्त किया है। हरियाणा पुलिस के प्रवक्ता ने आज यहां यह जानकारी देते हुए बताया कि गिरफ्तार किए गए आरोपियों की पहचान हिसार जिले के गांव खेदड़ निवासी अश्वनी तथा पाबड़ा निवासी प्रदीप के रूप में हुई है। आरोपियों को एसटीएफ हिसार की एक टीम ने नाकाबंदी करके नजदीक बरवाला पुलिस थाने से काबू किया है। एसटीएफ टीम ने गुप्त सूचना पर कार्रवाई करते हुए नाकांबदी कर हरियाणा नंबर की बोलेरो जीप से 1 किलोग्राम हेरोइन बरामद की। जब्त की गई हेरोइन की कीमत करोड़ों रुपये में आंकी गई है। दोनों आरोपियों के खिलाफ मादक पदार्थ अधिनियम की संबंधित धाराओं के तहत मामला दर्ज कर ड्रग-पैडलिंग के इस रैकेट में संलिप्त अन्य व्यक्तियों की पहचान करने के लिए आगे की जांच जारी है।


पुलिसकर्मियों पर की गई पुष्प वर्षा

अतुल त्यागी मंडल प्रभारी, मुकेश सैनी जिला प्रभारी, रिंकू सैनी रिपोर्टर हापुड़


हापुड पुलिस का विभिन्न क्षेत्रों में किया गया फूल वर्षा कर स्वागत


हापुड। कोरोना वायरस महामारी के चलते हमारे समस्त अधिकारीगण तथा पुलिस प्रशासन एक बहुत बड़ी लड़ाई लड़ रहा है जिसके चलते आज कोतबाली देहात पुलिस का विभिन्न क्षेत्रों में फूल बरसाकर किया सम्मान थाना हापुड  देहात  क्षेत्र के  मौहल्ला अयोध्यापुरी चैनापुरी शिवचरनपुरा में आज  कोरोना वायरस के  योद्धाओं का लोगों ने फूल माला  पहनाकर व पुष्प वर्षा  कर स्वागत किया। अपने घर की छतों से फूल बरसाकर ताली बजाकर सम्मान किया गया। थाना हापुड देहात प्रभारी राजेश कुमार भारती वरिष्ठ उपनिरीक्षक विनोद कुमार, अयोध्यापुरी चौकी प्रभारी सुमित तोमर सहित सभी पुलिसकर्मियों का स्वागत किया गया  इस मुश्किल घड़ी में पुलिस प्रशासन द्वारा हमारे वह हमारे परिवार की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए निरंतर कड़े फैसले कर हम लोगों को कोरोना वायरस से बचाने का कार्य किया जा रहा है। प्रत्येक व्यक्ति अपने व अपने परिवार के बारे में सोचता है लेकिन पुलिस प्रशाशन हमेशा से हम सबके बिषय में सदैव सोचते है इन सब के सहयोग से ही हम लोग सुरक्षित हैं इसलिए इन कोरोना  योद्धाओं का हम स्वागत तो कर ही सकते हैं यह अपने परिवार की चिंता ना कर  हमारी और हमारे परिवार की चिंता कर रहे हैं ऐसे योद्धाओं को हमें शत शत नमन करना चाहिए।स्वागत करने वालों में राष्ट्रीय सैनिक संस्था से मुकेश त्यागी हाकमीन अली मंसूरी हेमंत सैनी राजेश सैनी अशोक सैनी रोमी शर्मा शामसुंदर भुर्जी शारदा भुर्जी शुभम भुर्जी  पवन शर्मा विपिन अग्रवाल चंद्रमणि यादव हरि यादव डाक्टर सतपाल सिंह मौहम्मद यूनुस मौहम्मद बसीम सैफी सूफी रहीमुद्दीन एडबोकेट पवन कुमार शिशौदिया गुफरान करीम अली मुरतजा बसीम बाबू खुर्शीद सलीम राजकुमार गौतम पत्रकार भीम प्रधान कैलाश सैनी प्रदीप सैनी आदि लोगों का सहयोग रहा।


अमेरिकाः संक्रमण 5.60 लाख के पार

अमेरिकी बाजार / 136 अंक ऊपर नीचे डाउ जोंस; दुनियाभर के बाजारों में उतार-चढ़ाव, अमेरिका में कोरोना संक्रमितों की संख्या 5.60 लाख के पार

न्यूयॉर्क। सोमवार को अमेरिकी बाजार गिरावट के साथ खुले। डाउ जोंस 0.57 फीसदी की गिरावट के साथ 136 अंक नीचे खुला। नैस्डैक 0.43 फीसदी की गिरावट के साथ 34 अंक नीचे और एसएंडपी 0.51 फीसदी की गिरावट के साथ 14 अंक नीचे खुला खुला। बाजार खुलते समय डाउ जोंस 23583, नैस्डैक 8118 और एसएंडपी 2775 अंक पर कारोबार कर रहे थे। सोमवार को दुनियाभर के बाजारों में उतार-चढ़ाव की स्थिति रही। जापान के निक्केई 455 अंक, चीन का शंघाई कम्पोसिट 13 अंक और साउथ कोरिया का कोस्पी 34 अंक नीचे बंद हुए,तोहॉन्ग-कॉन्ग का हैंगसैंग 324 अंक, फ्रांस के CAC40 में 64 अंक और जर्मनी के DAX में 231 अंकों की बढ़त रही। सोमवार को दुनियाभर के बाजारों में उतार-चढ़ाव रहा।
शुक्रवार को को 1.45 फीसदी तक की बढ़तके साथ बंद हुए थे अमेरिकी बाजार शुक्रवार को डाउ जोंस 285 अंक यानी 1.22 फीसदी की बढ़त के साथ 23719 अंक पर बंद हुआ जबकि नैस्डैक 62 अंक यानी 0.77 फीसदी बढ़त के साथ 8153 अंक ऊपर और एसएंडपी 39 अंक यानी 1.45 फीसदी की बढ़त के साथ 2789 अंक ऊपर बंद हुआ था। सबसे ज्यादा प्रभावित अमेरिका और यहां के न्यूयॉर्क स्टेट में एक दिन में होने वाली मौतों में कमी आई है। देश में 24 घंटे में 1,528 की जान गई है। इनमें न्यूयॉर्क में केवल 758 की मौत हुई। एक दिन पहले देश में 1,920 और राज्य में 783 लोगों ने दम तोड़ा था। अब तक अमेरिका में 22 हजार 115 लोगों की जान जा चुकी है। वहीं, पांच लाख 60 हजार 425 लोस संक्रमित हैं। अमेरिकी राज्य टेक्सास में कोरोनावायरस से निपटने के लिए यहां के गवर्नर ग्रेग एबॉट ने डिजास्टर डिक्लेरेशन (आपदा घोषणा) को 30 दिनों के लिए बढ़ा दिया है। समाचार एजेंसी सिन्हुआ ने एबॉट के हवाले से कहा कि डिजास्टर डिक्लेरेशन को विस्तार देने का फैसला इसलिए लिया गया है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि राज्य में स्वास्थ्य व्यवस्था बनाए रखने के लिए पर्याप्त संसाधन और क्षमता बनाए रख सकें। सोमवार को भारतीय बाजार में रही गिरावटः तीन दिन की लंबी छुट्टी के बाद सप्ताह के पहले दिन यानी सोमवार को भारतीय बाजार गिरावट के साथ बंद हुआ। सुबह से बाजार में गिरावट रही, जो कारोबार खत्म होने तक बढ़त में नहीं आ सकी। बाजार बंद होने पर सेंसेक्स ने 469.60 अंक या 1.51% नीचे 30,690.02 पर और निफ्टी 118.05 पॉइंट या 1.3% नीचे 8,993.85 का कारोबार किया। इससे पहले गुरुवार, 9 अप्रैल को बाजार में 1200 अंकों की बढ़त देखने को मिली थी। बाजार बंद होने पर सेंसेक्स ने 1265.66 अंक ऊपर 31,159.62 का और निफ्टी ने 363.15 पॉइंट ऊपर 9,111.90 का कारोबार किया था। बाजार में गिरावट के मुख्य कारणः कोरोनावायरस के कारण मांग में कमी से कच्चे तेल की कीमतों में आई भारी गिरावट आई है। इससे उबरने के लिए तेल उत्पादक देशों में उत्पादन में कटौती पर सहमति बन गई है। मैक्सिको के ऊर्जा मंत्री रोकियो नैहरे के अनुसार तेल उत्पादक देशों ओपेक, रूस और अन्य देशों के बीच रोजाना 9.7 मिलियन बैरल की कटौती पर सहमति बन गई है। हालांकि, यह पहले जताए गए अनुमान 10 मिलियन बैरल से कम है। कटौती पर सहमति बनने के बाद सोमवार को शुरुआती कारोबार में कच्चे तेल की कीमतों में उछाल देखा गया। अमेरिकी बेंचमार्क डब्ल्यूटीआई में 7.7 फीसदी का उछाल देख गया और यह 24.52 डॉलर प्रति बैरल पर पहुंच गया। वहीं ब्रेंट क्रूड 5 फीसदी के उछाल के साथ 33.08 डॉलर प्रति बैरल पर पहुंच गया। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ट्वीट कर तेल कटौती पर बनी सहमति का स्वागत किया है। प्रमुख स्टॉक एक्सचेंज एनएसई ने सोमवार को कहा कि उसने कोरोना वायरस महामारी के खिलाफ लड़ाई में पीएम-केयर्स फंड और राज्य सरकार के कुछ फंडों के लिए 26 करोड़ रुपए का योगदान दिया है। एक विज्ञप्ति में कहा गया है कि एनएसई समूह के कर्मचारी भी इस उद्देश्य के लिए PM-CARES फंड की ओर एक दिन के वेतन का अलग से योगदान दे रहे हैं।


13 रिपोर्टों पर प्रशासन की लापरवाही

जालोर। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग द्वारा अब तक कोरोना वायरस संक्रमण से संबंधित संदेहास्पद 180 सेम्पल जांच हेतु लिये गये हैं। इनमें से 167 सेम्पल की रिपोर्ट नेगेटिव प्राप्त हुई है। तेरह सेम्पल जांच हेतु प्रक्रियाधीन है। इनकी रिपोर्ट प्राप्त नहीं हुई है।


मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. जी.एस.देवल ने बताया कि जिला कलक्टर के निर्देशानुसार जिले में 11 चयनित स्थानों को क्वारेंटाईन सेंटर हेतु अधिकृत किया गया है। इन क्वारेंटाईन सेन्टरों में अन्य राज्य या जिले से कोरोना प्रभावित क्षेत्रों से आये लोगों को या कोरोना संक्रमित के सम्पर्क में आये लोगों को 28 दिनों तक चिकित्सकीय देखभाल में रखा जा रहा है। रविवार तक जिले में कुल 132 लोगों को क्वारेंटाईन किया गया हैं। क्वारेंटाईन सेंटर जीएनएम प्रशिक्षण केन्द्र लेटा में 43, राजकीय अम्बेडकर बालक छात्रावास सायला में 33, राजकीय अम्बेडकर बालक छात्रावास भीनमाल में 38, राजकीय बालक आवासीय विद्यालय चाण्डुपुरा, जसवन्तपुरा में 6 एवं राजकीय देवनारायण बालक छात्रावास सांचौर में 12 व्यक्तियों को क्वारेंटाईन रखा गया है। डॉ. देवल ने बताया कि चिकित्साकर्मियों द्वारा रविवार को 560 टीमों ने घर-घर जाकर सर्वे किया एवं जिले में अब तक 2 लाख 75 हजार 648 घरों का सर्वे कर 8 लाख 93 हजार 928 सदस्यों की स्क्रीनिंग की जा चुकी है। स्वास्थ्य केन्द्रों की ओपीडी में अब तक 1 लाख 59 हजार 691 लोगों की स्क्रीनिंग की गई है। इस प्रकार जिले में अब तक कुल 10 लाख 53 हजार 629 लोगों की स्क्रीनिंग की गई है। सामान्य सर्दी, खांसी एवं बुखार वाले व्यक्तियों की विशेष तौर पर निगरानी की जा रही है। विभाग द्वारा लगातार घर-घर जाकर सर्वे करने का कार्य जारी है।


संतोष चंद्र


दुनिया-भर में 14 हजार 539 की मौत

पेरिस। कोरोना वायरस से दुनिया भर में कोहराम मचा हुआ है। अब तक एक लाख 14 हजार 539 लोगों की मौत हो गई है। एएफपी द्वारा जारी आंकड़ों में यह जानकारी दी गई। चीन में दिसम्बर में इस महामारी के सामने आने के बाद से 193 देशों और क्षेत्रों में 18 लाख 71 हजार 896 से अधिक लोग इससे संक्रमित हो चुके हैं। इनमें से कम से कम तीन लाख 95 हजार लोग अब तक ठीक भी हुए हैं।


एएफपी ने ये आंकड़े राष्ट्रीय प्राधिकारों और विश्व स्वास्थ्य संगठन से प्राप्त सूचना के आधार पर एकत्रित किए हैं जो वास्तविक संख्या में संक्रमित मामलों की तुलना में काफी कम हो सकते हैं। कई देश केवल बेहद गंभीर मामलों की ही जांच कर रहे हैं। अमेरिका में महामारी से अब तक 22 हजार 109 लोगों की मौत हुई है और पांच लाख 57 हजार 590 लोग संक्रमित हैं। करीब 41 हजार 831 लोग इससे ठीक चुके हैं। इटली दूसरा सर्वाधिक प्रभावित देश है जहां अब तक 19 हजार 899 लोग इस बीमारी का शिकार बने हैं और एक लाख 56 हजार 363 लोग संक्रमित हुए हैं। स्पेन में 17 हजार 489 लोगों की कोरोना वायरस से मौत हुई है और एक लाख 69 हजार 496 लोगों में संक्रमण की पुष्टि हुई है। फ्रांस में 14 हजार 393 लोग काल कवलित (मरना) हुए हैं और एक लाख 32 हजार 591 लोग संक्रमित हुए हैं।ब्रिटेन में दस हजार 612 लोगों की कोरोना वायरस से मौत हो चुकी है और 84 हजार 270 लोग संक्रमित हुए हैं। चीन ने इस बीमारी से 3341 लोगों के मौत और 82 हजार 160 लोगों के संक्रमित होने की घोषणा की है। भारत में स्थिति खराबः में भी कोरोना के लिए मरीजों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है। देश में कोरोना से अब तक 324 लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं मरीजों का आंकड़ा नौ हजार को पार कर गया है। स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक देश में 9352 लोग कोरोना वायरस से संक्रमित हुए हैं। 980 मरीज ठीक हुए हैं।


पुलिस ने किया शातिर ठग गिरफ्तार 

अतुल त्यागी जिला प्रभारी


पिलखुवा पुलिस को कोतवाली को मिली बड़ी सफलता शातिर ठग गिरफ्तार 


हापुड़। थाना कोतवाली पिलखुवा पुलिस  द्वारा एक बड़ी सफलता हाथ लगी जब पुलिस टीम ने एक शातिर ठग को 60 डीवीआर जिनकी कीमत लगभग एक लाख आठ हजार रुपये व मोबाइल फोन आदि बरामद किए। पुलिस अधीक्षक के निर्देश अनुसार क्षेत्रीय अधिकारी व थाना कोतवाली प्रभारी के कुशल नेतृत्व में आज पिलखवा पुलिस द्वारा उप निरीक्षक वासुदेव चौकी छिजारसी क्षेत्र टोल प्लाजा के पास से कंपनी मालिक आकाश सिंगल पुत्र अनिल कुमार सिंघल निवासी अजनारा होम्स सेक्टर 16 बी नोएडा एक्सटेंशन थाना बिसरख जिला गौतम बुद्ध नगर की सूचना पर एक शातिर अभियुक्त जिसके द्वारा अपना नाम अजय परिहार संत सिक्योरिटी सिस्टम में डिस्ट्रीब्यूटर बता कर सामान खरीदने वाली पार्टी एक कंप्यूटर खरीदने के लिए फोन करता था तथा उनके एडवांस रूपए आरटीजीएस के माध्यम से ग्राहक के अकाउंट से कंपनी के अकाउंट में रुपए डलवा कर कंपनी से सन सिक्योरिटी सिस्टम कंपनी से दूसरा माल लेकर ग्राहकों तक नहीं पहुंचा कर अलग कहीं भेज दिया करता था जो कि इसके लिए यह फर्जी आईडी का प्रयोग करता था दिनांक 4 फरवरी 2020 को कछुआ के रहने वाले विकास गुप्ता के साथ भी इसी प्रकार से अपना नाम अजय परिहार बताकर कंप्यूटर की डील कर अपने खाते में 420000 रुपये डलवा कर कंपनी से कंप्यूटर के बदले डीवीआर खरीद कर विकास गुप्ता को माल पहुंचा कर अलग कहीं भेज दिया जिस संबंध में थाना विकास गुप्ता द्वारा 20 फरवरी 2020 को एक मुकदमा पंजीकृत कराया गया था पंजीकृत होने के बाद से इसका कहीं पता नहीं चल पा रहा था पुलिस इस फर्जी नटवरलाल को पकड़ने के लिए जाल बिछाए बैठी थी कंपनी मालिक आकाश सिंगल द्वारा उप निरीक्षक वासुदेव सिंह को बताया कि मेरे पास उस मोबाइल नंबर से फोन आ रहा है जिस मोबाइल नंबर से उस व्यक्ति द्वारा पिलखवा के रहने वाले विकास गुप्ता का बुक हुआ माल उस तक नहीं पहुंच जा कर रहा है कुछ माल बचा है जो बिका नहीं उस माल को वापस ले लो इस पर शक होने पर मालिका का सिंगल द्वारा उसे टोल प्लाजा पर बुला लिया तथा अजय परिहार नामक व्यक्ति को टोल प्लाजा से गिरफ्तार किया गया जिससे पूछताछ पर बताया कि उसका असली नाम गगन गर्ग संजय कुमार गर्ग निवासी स्वामी श्रद्धानंद कॉलोनी भलस्वा डेरी थाना दिल्ली है तथा उसकी निशानदेही पर उसके कब्जे से डीवीआर व अन्य फर्जी सिम डालकर धोखाधड़ी करता था बरामद किया गया है।


कारवाईः तंबाकू युक्त गुटखा किया बरामद

बिंदकी जिला फतेहपुर से,संवाददाता की खास रिपोर्ट
मुखबिर की सूचना पर जोनिहा चौकी इंचार्ज राजेंद्र कुमार त्रिपाठी के द्वारा की गई बड़ी कार्रवाई करते हुए तंबाकू युक्त गुटखा किया बरामद तथा पांच अभियुक्त के ऊपर की कार्रवाई 


बिन्दकी-फतेहपुर। कोरोना वायरस कोविड-19 विश्वव्यापी महामारी जो कि 200 से अधिक देशों को अपनी गिरफ्त में ले चुका है। उसी दौरान जिला फतेहपुर के बिंदकी तहसील में आए दिन अलग-अलग क्षेत्रों में कुछ अलग तरह की हलचल हो रही है। कुछ दिनो से शहबाजपुर गांव में गुटखा की खरीद फरोख्त चल रही थी। इसी दौरान एक मुखबिर की सूचना मिलने पर चौकी इंचार्ज राजेंद्र कुमार त्रिपाठी ने पुलिस बल के साथ दुकान में छापा डाल दिया मौके पर मौजूद पांच अभियुक्त को पकड़ कर हिरासत में ले लिया | दुकान में मौजूद तम्बाकू युक्त गुटखा बरामद कर दुकान को सीज कर दिया है।


बड़ी कार्रवाई करते हुए चौकी इंचार्ज ने पुलिस बल के साथ पांच अभियुक्त को हिरासत में ले लिया है और उनके पास मौजूद तम्बाकू युक्त गुटका को भी हिरासत में ले लिया है मौके पर मौजूद फूड इंस्पेक्टर सलील सिंह ने दुकान को सीज कर दिया। अभियुक्त के ऊपर 188,269,270 आईपीसी व धारा तीन महामारी अधिनियम तथा खाद सुरक्षा एवं मानक अधिनियम की धारा 302 का व 26 के तहत की गई बड़ी कार्रवाई।


अमित कुमार


3 आरोपियों को पकड़ा, 9 बाइक सीज

पुलिस ने जुआ खेलते हुए 3 आरोपियों को पकड़ा, मौके पर मिली 9 बाइक की गई सीज


एक दर्जन जुआरी मौके से फरार पुलिस कर रही तलाश


बिंदकी फतेहपुर। मुखबिर की सटीक सूचना पर पुलिस ने छापेमारी की कार्रवाई कर जुआ खेलते हुए 3 लोगों को पकड़ लिया जबकि एक दर्जन जुआरी मौके से फरार हो गए मौके से मिली 9 बाइक को पुलिस ने सीज कर कार्रवाई की है। जानकारी के अनुसार कोतवाली क्षेत्र के बोधि का डेरा गांव में जुआ खेलने की खबर मुखबिर की सटीक सूचना पर मिली तो खजवा चौकी इंचार्ज भगवान बक्स सिंह हमराही सिपाहियों के साथ मौके पर पहुंचे जिसमें तीन जुआरियों को पुलिस ने मौके से पकड़ लिया साथी जामा तलाशी और फड़ से ₹2000 मिले। करीब एक दर्जन जुआरी मौके से फरार हो गए पुलिस को मौके से नो बाइक मिली पुलिस सभी बाइकों को लेकर खजुहा चौकी परिसर आई सभी बाइकों को सीज कर कानूनी कार्रवाई की गई है इस बड़ी कार्रवाई से हड़कंप मचा रहा। पुलिस भागे हुए अन्य जुआरियों की तलाश में है। चौकी इंचार्ज खजुहा भगवान बक्स सिंह ने बताया कि उन्हें सूचना मिली थी कि वही का डेरा गांव में जुआ खेला जा रहा है इस पर उन्होंने छापेमारी की कार्रवाई थी जिसमें तीन जुआरी मौके पर पकड़े गए जबकि एक दर्जन फरार हो गए 9 बाइक मौके पर मिली हैं जिनको सीज किया गया है लॉक डाउन के चलते यह कार्रवाई की गई है।


कर्मठ सील पुलिसकर्मियों पर पुष्प वर्षा

आदिल
गाजियाबाद। विश्व में कोरोनावायरस कोविड-19 महामारी ने हा-हा कार मचा रखा है। लाखों लोगों को मौत के घाट उतार चुका है और कई लाख लोग संक्रमण से जूझ रहे हैं। भारत में वायरस के नियंत्रण को ध्यान में रखते हुए लॉक डाउन का निर्णय लिया गया। लॉक डाउन वायरस के इंफेक्शन को नियंत्रित करने का एक प्रभावी तरीका है। जिस को प्रभावशाली ढंग से धरातल पर उतरने एवं नियंत्रण का कार्य स्थानीय पुलिस के द्वारा महत्वपूर्ण ढंग से निभाया गया है। इससे पूर्व पुलिस की इस प्रकार की उदारता और समर्पण पहले कभी देखने को नहीं मिला है। देश के प्रति समर्पित पुलिस विभाग ने जो महत्वपूर्ण कार्य किया है। उसके लिए सदैव पुलिस को सम्मान प्राप्त होता रहेगा। इस प्रकार के सहयोग और समर्पण के भाव के कारण जगह-जगह पुलिस का सम्मान किया जा रहा है।


नगर पालिका लोनी स्थित 100 फुट रोड पर मानव सेवा समिति के अध्यक्ष धर्मेंद्र त्यागी के सौजन्य से स्थानीय पुलिस पर पुष्प वर्षा कर सम्मान किया गया। इस अवसर पर उप निरीक्षक अजय पाल, हरेंद्र राणा और अखिलेश सिंह पर स्थानीय लोगों के द्वारा पुष्प वर्षा की गई। इस अवसर पर डॉ प्रदीप त्यागी एवं सुनील फौजी आदि उपस्थित रहे।


जिला प्रशासन ने लिया स्थिति का जायजा

कोविड-19 वैश्विक महामारी को दृष्टिगत रखते हुए कोरोना वायरस से बचाव एवं सुरक्षित करने के उद्देश्य से डीएम के निर्देश पर अधिकारियों की निरंतर कार्यवाही


मुख्य विकास अधिकारी अनिल कुमार सिंह के द्वारा आज अपने भ्रमण के दौरान दो स्थानों पर पहुंचकर क्वॉरेंटाइन सेंटरों का किया गया स्थल निरीक्षण, अधिकारियों को संचालन के संबंध में दिए गए आवश्यक दिशा निर्देश


गौतम बुध नगर। कोविड-19 वैश्विक महामारी को दृष्टिगत रखते हुए कोरोना वायरस से बचाव एवं इसके संक्रमण को रोकने के उद्देश्य से जिलाधिकारी सुहास एल.वाई. के द्वारा विगत दिवस जनपद में संचालित कोरेंटाइन सेंटरों के संबंध में संबंधित अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश दिए गए थे ताकि कोरेंटाईन सेंटरों पर एडमिट सभी व्यक्तियों को प्रोटोकॉल के अनुसार सुविधाएं साफ-सफाई तथा आवश्यक कार्रवाई सुरक्षित रहे। इस श्रंखला में आज मुख्य विकास अधिकारी अनिल कुमार सिंह के द्वारा जनपद में कोरेंटाइन सेंटर के रूप में संचालित गौतम बुद्ध नगर यूनिवर्सिटी के अनुसूचित जाति जनजाति छात्रावास एवं गलगोटिया कॉलेज में संचालित कोरेंटाइन केंद्र का निरीक्षण किया गया। निरीक्षण के समय अनुसूचित जनजाति छात्रावास में नायब तहसीलदार सदर एवं प्रभारी श्रीमती डॉ शशि कुमारी उपस्थित रहे। मुख्य विकास अधिकारी अनिल कुमार सिंह द्वारा संचालन में आ रही कमियों को दृष्टिगत बात की गई। प्रभारी को यथा आवश्यक कार्य संचालन के निर्देश दिए गए। गलगोटिया कॉलेज के निरीक्षण के समय वहां के नोडल अधिकारी संबंधित मजिस्ट्रेट एसडीएम सदर प्रसून द्विवेदी भी निरीक्षण के समय उपस्थित रहे। मुख्य विकास अधिकारी द्वारा संचालन में आ रही कमियों को दूर करने के निर्देश दिए गए। निरीक्षण के समय अनुसूचित जनजाति छात्रावास में कुल 58 व्यक्ति एवं गलगोटिया छात्रावास में कुल 111 एडमिट थे। मुख्य विकास अधिकारी अनिल कुमार सिंह ने अपने भ्रमण के दौरान दोनों सेंटर पर प्रोटोकॉल के अनुरूप सफाई व्यवस्था एवं सभी एडमिट व्यक्तियों को निर्धारित समय अवधि के भीतर खानपान की व्यवस्था सुनिश्चित कराने के निर्देश दिए गए हैं ताकि प्रोटोकॉल के अनुरूप क्वॉरेंटाइन सेंटर संचालित रहे। मुख्य विकास अधिकारी ने अपने भ्रमण के दौरान संबंधित अधिकारियों को यह भी स्पष्ट किया कि इस संबंध में जिलाधिकारी द्वारा भी संबंधित अधिकारियों को लिखित में आदेश निर्गत किए गए हैं। अतः कोई भी अधिकारी गण क्वॉरेंटाइन सेंटर के संचालन में अपने स्तर पर लापरवाही नहीं बरतेंगे। अन्यथा की स्थिति में संबंधित अधिकारियों के विरुद्ध कार्यवाही प्रस्तावित होगी। प्रमुख स्थलों पर निरीक्षण के समय जिला पंचायत राज अधिकारी भी उपस्थित रहे। राकेश चौहान जिला सूचना अधिकारी गौतम बुध नगर।


इंदौर में 22 नए संक्रमित, कुल 328

इंदौर। शहर में सोमवार सुबह 22 नए कोरोना पॉजिटिव मरीज मिले हैं। इसको मिलाकर संक्रमितों की संख्या 328 हो गई है। एक मरीज की मौत हो गई है इसको मिलाकर मरने वालों की संख्या 33 हो गई है। सीएमएचओ डॉ प्रवीण जड़िया ने इसकी पुष्टि की। उधर रविवार को विशेष विमान से 11 सौ से अधिक सैंपल दिल्ली भेजे गए हैं, देर रात तक इसकी रिपोर्ट आ सकती है। जिले में बढ़ते मरीजों की संख्या को देखते हुए कोविड 19 अस्पतालों की संख्या बढ़ाई जा रही है।
इसके पहले रविवार को जांचे गए 159 सैंपल में से इंदौर के आठ मरीज पॉजिटिव मिले थे। रविवार सुबह दो और मरीजों की एमआरटीबी अस्पताल में मौत हो गई। रविवार को जिन दो मरीजों की मौत हुई, उनमें सोमनाथ की चाल निवासी 65 वर्षीय और मोती तबेला निवासी 70 वर्षीय वृद्ध शामिल हैं। सीएमएचओ डॉ. प्रवीण जड़िया ने इसकी पुष्टि की।
दवा व्यापारी भी पॉजिटिव
रिपोर्ट के अनुसार इंदौर में मिले पॉजिटिव मरीजों में बॉम्बे अस्पताल की 23 वर्षीय नर्स और एक दवा व्यापारी शामिल हैं। एक दिन पहले ही इसी अस्पताल से एक डॉक्टर और एक नर्स कोरोना पॉजिटिव आए थे। इनके अलावा नयापुरा, सिद्धार्थ नगर, रतलाम कोठी, अंबिकापुरी और ब्रह्मबाग कॉलोनी से एक-एक मरीज मिले हैं। दो मरीज खरगोन और एक मरीज धार से भी पॉजिटिव सामने आया है।
13 मरीज गंभीर
सीएमएचओ के अनुसार कुल मरीजों में से 226 की हालत स्थिर है, जबकि 13 गंभीर हैं। अब तक 32 लोगों की मौत हो चुकी है, वहीं 35 मरीजों को स्वस्थ्य होने पर डिस्चार्ज किया जा चुका है।


एमजीएम मेडिकल कॉलेज पहुंचे 600 नए सैंपल
रविवार को पॉजिटिव मरीज मिलने की संख्या में कमी आई है, लेकिन सैंपल की संख्या में कमी नहीं आई। एमवाय अस्पताल की ओपीडी में शाम तक 79 मरीजों की जांच की गई। इनमें 27 संदिग्ध मरीजों के सैंपल लिए गए। अब तक कुल 600 सैंपल लिए गए हैं। इनमें से 478 सैंपल इंदौर से आए हैं।


देश में कोरोना के कुल 2,006,212 टेस्ट

नई दिल्ली। भारत में विदेशी नागरिकों सहित कोरोना वायरस महामारी से संक्रमित होने वालों की संख्या सोमवार (13 अप्रैल) को बढ़कर 9152 हो गई है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने संवाददाता सम्मेलन में यह जानकारी दी। मंत्रालय ने सोमवार को जारी आंकड़ों में कहा कि देश में कोविड-19 संक्रमण के चलते 308 मौतें हुई हैं और वर्तमान में कुल 7987 व्यक्ति महामारी से संक्रमित हैं। वहीं, पिछले 24 घंटे में कोरोना के 796 नए मामले सामने आए हैं, जबकि 35 लोगों को इस वायरस की वजह से अपनी जान गंवानी पड़ी है और 141 लोग स्वस्थ हुए हैं। और अब तक कुल 857 (1 माइग्रेटेड) मरीज इस बीमारी से ठीक हो चुके हैं।


मंत्रालय ने ने कहा, “महाराष्ट्र में सबसे अधिक 149 मौतें हुई हैं, जबकि मध्यप्रदेश में 36 लोगों को इस वायरस ने लील लिया है। वहीं, गुजरात में संक्रमण के चलते 25 और पंजाब व दिल्ली में क्रमशः 11 और 24 लोगों की जान गई है।” देश के 27 राज्य और सभी केंद्र शासित प्रदेशों में से कोरोना वायरस संक्रमण के सबसे अधिक मामले 1985 महाराष्ट्र से ही आए हैं। इसके बाद 1154 मामलों के साथ दिल्ली दूसरे, जबकि 1043 मामलों के साथ तमिलनाडु तीसरे स्थान पर है।


गौरतलब है कि भारत में कोरोनावायरस की रोकथाम के मद्देनजर केंद्र सरकार द्वारा 24 मार्च की मध्यरात्रि से 21 दिनों का राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन घोषित किया गया है। कल तक हमने के लिए 2,06,212 टेस्ट किए हैं, हमारे पास अभी अगले 6 सप्ताह के लिए टेस्टिंग का स्टॉक है: रमन आर. गंगाखेडकर, भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद


सभी ट्रकों और गुड्स कैरियर की इंटर स्टेट या इंट्रा स्टेट की आवाजाही पर कोई रोक नहीं है। चाहे आवश्यक वस्तु या किसी भी तरह का सामान ट्रांसपोर्ट हो रहा हो। ट्रक में ड्राइवर और उसके साथ एक व्यक्ति को मंजूरी दी गई है: गृह मंत्रालय के संयुक्त सचिव, पुण्य सलिला श्रीवास्तव


राजस्थान में 43 और लोग संक्रमित पाए गए। अब राज्य में पॉजिटिव मामलों की कुल संख्या बढ़कर 847 हो गई है। नए मामलों में 20 केस जयपुर से, 11 भरतपुर से और 7 जोधपुर से है: राज्य स्वास्थ्य विभाग


असम में अब तक 3209 नमूने टेस्ट किए गए हैं। लगभग 85,582 PPE (पर्सनल प्रोटेक्टिव इक्विपमेंट) मास्क और 56 लाख से अधिक ट्रिपल-लेयर्ड मास्क हमारे पास हैं: असम के स्वास्थ्य मंत्री हिमंत बिस्वा सरमा 


कर्नाटक में 15 नए मामलों की पुष्टि हुई।अब राज्य में पॉजिटिव मामलों की कुल संख्या 247 है,जिसमें 6 मौतें और 59 डिस्चार्ज शामिल है। 15 नए मामलों में से 13 कॉन्टैक्ट हिस्ट्री,1 दिल्ली की यात्रा किया हुआ है और 1 में गंभीर तीव्र श्वसन संक्रमण का इतिहास है।


राज्य में 82 नए केस(मुबंई में 59 केस सहित)सामने आए हैं।अब राज्य में पॉजिटिव मामलों की कुल संख्या बढ़कर 2064 हुई: महाराष्ट्र स्वास्थ्य विभाग


कोरोना वायरस के मामलों में एक बार फिर से बढोतरी हुई है। स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, अभी तक देश में कोरोना के 9,152 मरीज मिल चुके हैं। इसके अलावा 308 लोगों की मौत हुई है।


308 की मौत, 9152 लोग संक्रमित

नई दिल्ली। देश में कोरोना संक्रमण के मामले लगातार तेजी से बढ़ते दिख रहे हैं। हालांकि इनमें से अधिकतर केस कुछ राज्यों में ही बढ़े हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा है कि पिछले 14 दिनों में देश के 15 राज्यों के 25 ऐसे जिले हैं जिन्होंने कोरोना को काबू कर लिया है। इन जिलों में 14 दिनों से एक भी नया मरीज नहीं मिला है।


स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने बताया कि महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़, कर्नाटक, गोवा, केरल, मणिपुर, जम्मू-कश्मीर, मिजोरम, पुडुचेरी, पंजाब, बिहार, राजस्थान, हरियाणा, उत्तराखंड और तेलंगाना के कुछ जिलों में पिछले 14 दिनों में कोरोना का कोई संक्रमित नहीं मिला है, जबकि इससे पहले इन जिलों में कोरोना संक्रमण के मामले सामने आए थे।


15 राज्यों के इन जिलों में कोरोना पर जीत


राज्य जिले
महाराष्ट्र गोंदिया
छत्तीसगढ़ राजनंद गांव, दुर्ग बिलासपुर
कर्नाटक देवनगीरी, कोडुगू, तुंगुरु और उडूपी
गोवा साउथ गोवा और गोवा
केरल वायनाड और कोट्टयम
मणिपुर वेस्ट इम्फाल
जम्मू कश्मीर राजौरी
मिजोरम आइजोल वेस्ट
पुडुचेरी माहे
पंजाब एसबीएस नगर
बिहार नालंदा, पटना, मुंगेर
राजस्थान प्रतापगढ़
हरियाणा पानीपत, रोहतक, सिरसा
उत्तराखंड पौढ़ी गढ़वाल
तेलंगाना मदरागुड़ी, कोरागूडम
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने सोमवार को जारी आंकड़ों में कहा कि देश में अब तक 9152 लोग संक्रमित हो चुके हैं। कोविड-19 संक्रमण के चलते 308 मौतें हुई हैं और वर्तमान में कुल 7987 व्यक्ति महामारी से संक्रमित हैं। पिछले 24 घंटे में कोरोना के 796 नए मामले सामने आए हैं, जबकि 35 लोगों को इस वायरस की वजह से अपनी जान गंवानी पड़ी है और 141 लोग स्वस्थ हुए हैं। अब तक कुल 857 (1 माइग्रेटेड) मरीज इस बीमारी से ठीक हो चुके हैं।


पेट्रोल उत्पादक में भारी कमी, चिंता

नई दिल्ली। सरकारी तेल कंपनियां केंद्र सरकार के निर्देश पर देश भर में उज्ज्वला योजना को आगे बढ़ाने में जोर-शोर से लग गई हैं। लेकिन लॉकडाउन की वजह से जिस तरह से पेट्रोल व डीजल की मांग घट रही है उससे चिंता बढ़ती जा रही है। लॉकडाउन के चलते वाहनों के रोड से हटने और औद्योगिक गतिविधियों के ठप होने से हर तरह की ऊर्जा की मांग कम हो गई है।


सरकारी आंकड़ों के मुताबिक मार्च, 2020 में पेट्रोल की मांग में 16.3 फीसद और डीजल में 24 फीसद की गिरावट हुई है। जबकि अप्रैल के महीने में अभी तक के आंकड़े बताते हैं कि उक्त दोनों उत्पादों की मांग में गिरावट 70 फीसद तक की है। इसी तरह से बिजली की मांग भी 30-35 फीसद तक घट गई है। तेल कंपनियों के सूत्रों का कहना है कि पिछले कई दशकों के बाद ऐसा माहौल बना है कि पेट्रोल व डीजल की मांग में अचानक दो-तिहाई की गिरावट हो गई है। ऐसे में क्रूड आवक से लेकर तैयार उत्पादों के स्टॉक प्रबंधन तक नए सिरे से तैयारी करनी पड़ रही है। एक समस्या क्रूड यानी कच्चा तेल प्रबंधन को लेकर आ रही है। बिक्री नहीं होने की वजह से रिफाइनरियों में तैयार उत्पाद का स्टॉक बहुत ही ज्यादा है, ऐसे में नए क्रूड का स्टॉक लेने की उनकी क्षमता कम हो गई है।


हालांकि तेल कंपनियों के पास पहले से जो क्रूड है उसे देश के रणनीतिक भंडार में ट्रांसफर करने की तैयारी हो रही है। लेकिन यह काम भी काफी कठिन है क्योंकि इंडियन ऑयल, हिंदुस्तान पेट्रोलियम व भारत पेट्रोलियम की रिफाइनरियां देशभर में हैं। जबकि तीनों रणनीतिक भंडार मेंगलुरु, विशाखापत्तनम व पुडूर में हैं। रिफाइनरियों से क्रूड को इन भंडारों तक पहुंचाने में समय लगेगा। लेकिन इससे तेल कंपनियों के पास कुछ जगह खाली हो सकती है जिसे वे सस्ते क्रूड खरीदकर भर सकती हैं। पेट्रोल व डीजल की मांग में कमी होने की भरपाई तेल कंपनियां एलपीजी की मांग से कर रही हैं। कोरोना वायरस के कारण जारी लॉकडाउन के बाद पीएम नरेंद्र मोदी ने एलान किया था कि उज्ज्वला योजना के सभी लाभार्थियों को तीन एलपीजी सिलेंडर दिए जाएंगे। ऑयल कंपनियां इस काम में जुट गई हैं। अभी तक के आंकड़े बताते हैं कि अप्रैल में 1.26 करोड़ एलपीजी सिलेंडर की बुकिंग हुई है जिसमें से 85 लाख सिलेंडर की आपूर्ति की जा चुकी है।


केरलः 1 दिन में 36 मरीज ठीक

नई दिल्ली। कोरोना वायरस से दो हफ्ते पहले तक सबसे ज्यादा प्रभावित राज्यों में से एक केरल में कोविड-19 की रफ्तार सुस्त पड़ गई है। रविवार को राज्य में एक हीं दिन में 36 मरीज ठीक होने के बाद अस्पताल से डिस्चार्ज हो गए जबकि सिर्फ 2 नए मरीज सामने आए। राज्य में कोरोना वायरस के अब तक 374 मरीज मिले हैं, इनमें से लगभग आधे यानी 179 मरीज पूरी तरह ठीक भी हो चुके हैं जबकि 2 की मौत हुई है। राज्य की स्वास्थ्य मंत्री के के शैलजा ने यह जानकारी दी। 
केरल  में एक दिन में ठीक हुए रोगियों की यह सबसे बड़ी संख्या है। अबतक केवल दो नये मामले सामने आए हैं। कन्नूर और पथनमथिट्टा जिले में एक-एक व्यक्ति कोरोना वायरस से संक्रमित पाया गया है। ये दोनों हाल ही में विदेश से लौटे थे। राज्य में कुल 179 लोग ठीक हो चुके हैं। केरल में 194 लोग अब भी कोरोना वायरस से संक्रमित हैं। 


शैलजा ने एक विज्ञप्ति में कहा, ''आज ठीक हुए 36 रोगियों में से कासरगोड के 28, मलप्पुरम के छह और कोझिकोड़ तथा इडुक्की जिले का एक-एक व्यक्ति शामिल है। फिलहाल विभिन्न अस्पतालों में 194 रोगियों का इलाज चल रहा है। केरल में कम से कम 179 लोग ठीक हो गए हैं।'' 
उन्होंने कहा कि पथनमथिट्टा में संक्रमित पाया गया व्यक्ति हाल ही में संयुक्त अरब अमीरात के शारजाह से जबकि कन्नूर का निवासी दूसरा व्यक्ति दुबई से लौटा था। राज्य में अबतक 14,989 लोगों के नमूनों को जांच के लिये भेजा गया है।
इस बीच केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन का कहना है कि लॉकडाउन को चरणबद्ध तरीके से हटाया जाना चाहिए और 14 अप्रैल के बाद केंद्र के आदेशानुसार केरल हर प्रतिबंध का पालन करने के लिए तैयार है। मुख्यमंत्रियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ हुई चर्चा का विवरण देते हुए विजयन ने कहा कि उन्होंने विभिन्न देशों में लॉकडाउन के कारण फंसे केरलवासियों को वापस लाने के लिए विशेष उड़ानों के संचालन के लिए केंद्र के हस्तक्षेप की मांग की। 
विजयन के अनुसार प्रधानमंत्री ने यह भी कहा कि हमें आने वाले हफ्तों में और अधिक सावधान रहने की जरूरत है। मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘केंद्र के आधिकारिक निर्णय की घोषणा होना बाकी है। राज्य उसके अनुसार निर्णय लेगा। हमारी राय में कुछ जिलों को प्रतिबंध की आवश्यकता है लेकिन कुछ को आवश्यकता नहीं है। इसलिए देश में लॉकडाउन पर केंद्र सरकार के फैसले का इंतजार करें और हम उसी के मुताबिक काम करेंगे।” 
मुख्यमंत्री ने कहा कि केरल में अधिक जनसंख्या घनत्व वाले क्षेत्रों में अनियंत्रित सार्वजनिक यात्रा की अनुमति देने से सामुदायिक प्रसार की संभावना उत्पन्न हो सकती है। उन्होंने कहा कि केरल के सात हॉटस्पॉट (संक्रमण से बुरी तरह प्रभावित क्षेत्र) कासरगोड, कन्नूर, कोझीकोड, मलप्पुरम, त्रिशूर, एर्णाकुलम और तिरुवनंतपुरम में 30 अप्रैल तक प्रतिबंध जारी रखने का भी सुझाव दिया गया।


रमजानः घर पर पढ़े नमाज, रखे रोजा

नई दिल्ली। केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कोरोना के कहर को देखते हुए संभवत: 24 अप्रैल से शुरू हो रहे रमजान के पवित्र महीने के दौरान भारतीय मुसलमानो को लॉकडाउन के दिशा निदेर्शों एवं सामाजिक दूरी का पूरी ईमानदारी से पालन करते हुए अपने-अपने घरों पर ही इबादत करने का अनुरोध किया।
राज्यों के वक्फ बोर्डों की रेगुलेटरी बॉडी (नियामक संस्था) केन्द्रीय वक्फ परिषद के अध्यक्ष नकवी ने बताया कि राज्यों के विभिन्न वक्फ बोडोर्ं के तहत देश भर में 7 लाख से ज्यादा पंजीकृत मस्जिदें,ईदगाहें, इमामबाड़े,दरगाहें एवं अन्य धार्मिक संस्थान आते हैं। ज्ञात हो कि कोरोना के कहर के चलते सऊदी अरब सहित अधिकांश मुस्लिम देशों ने रमजान पर धार्मिक स्थलों पर इबादत, इफ्तार आदि पर रोक लगा दी है। 
उन्होंने बताया कि विभिन्न धर्मगुरुओं, सामाजिक-धार्मिक संगठनों के प्रतिनिधियों, राज्य वक्क बोर्ड के अधिकारियों-पदाधिकारियों से बात करने के बाद उनसे अपील की है, कि धार्मिक-सामाजिक संगठन एवं धर्मगुरु यह सुनिश्चित करें कि रमजान के महीने में मस्जिदों एवंअन्य धार्मिक स्थलों की जगह लोग अपने-अपने घरों पर रमजान की धार्मिक जिम्मेदारियों को पूरा करें।
नकवी ने बताया कि केन्द्रीय वक्फ परिषद के माध्यम से सभी राज्य वक्फ बोडोर्ं को निर्देशित किया गया है कि रमजान के पवित्र महीने में लॉकडाउन एवं सोशल डिस्टेंसिंग के दिशा-निदेर्शों का कड़ाई से पालन सुनिश्चित कराये, किसी भी तरह से किसी भी धार्मिक स्थल पर लोगों के इकट्ठा होने से रोकने के प्रभावी उपाय करने होगें, सभी धार्मिक एवं सामाजिक संगठनों एवं लोगों को स्थानीय प्रशासन की इस कार्य में मदद लेनी एवं देनी चाहिए।


उन्होंने कहा कि 08-09 अप्रैलको शब-ए-बारात के पवित्र मौके पर राज्य वक्फ बोडोर् के अतिसक्रिय प्रयासों और सामाजिक एवं धार्मिक लोगों के सकारात्मक कोशिशों से भारतीय मुसलमानों ने शब-ए-बारात के मौके पर अपने घरों पर ही इबादत और अन्य धार्मिक कार्यो को पूरा किया। शब-ए-बारात पर भारतीय मुसलमानों ने कोरोना के कहर को ध्यान में रखकर लॉकडाउन एवं सोशल डिस्टेंन्सिंग का जिस ईमानदारी के साथ पालन किया वह सराहनीय है। नकवी ने कहा कि कोरोना की चुनौती को ध्यान में रखकर देश के सभी मन्दिरों, मस्जिदों, गुरुद्वारों, चचोर्ं एवं अन्य धार्मिक स्थलों पर होने वाले धार्मिक कार्यक्रम पूरी तरह रोक दिये गये हैं एवं लॉकडाउन एवं सोशल डिस्टेंन्सिंग का प्रभावी ढ़ंग से पालन किया जा रहा है।



  1. उन्होंने कहा कि हिन्दुस्तान में भी लाखों मस्जिद, दरगाहें, इमामबाड़े, ईदगाहे, मदरसे एवं अन्य धार्मिक स्थल हैं जहां रमजान के पवित्र महीने में इबादत, तराबी,इफ़्तार आदि का आयोजन होता है, जहाँ बड़ी संख्या में लोगों के इकट्ठा होने की परम्परा रही है। नकवी ने कहा कि राज्य वक्फबोर्डों, धार्मिक-सामाजिक संगठनों एवं अन्य बुद्धिजीवियों को घरों में ही रहकर सोशल डिस्टेंन्सिंग का पालन करना चहिए।


महामारी कानून 1897 व धारा 188

जनता कर्फ्यू और उसके बाद से जारी लॉकडाउन में हम कई कानूनी धाराएं और भाषाएं सुन रहे हैं। आइये आप भी जानिए क्या है ये प्रमुख धाराए और उनमें निहित सजा।


क्या है धारा 188
कोरोना वायरस से लड़ने के लिए लॉकडाउन महामारी कानून ( Epidemic Diseases Act, 1897) के तहत लागू किया गया है। इस संबंध में किसी सरकारी कर्मचारी द्वारा दिए निर्देशों का उल्लंघन करने पर भी आपके खिलाफ ये धारा लगाई जा सकती है। यहां तक कि किसी के ऊपर ये धारा लगाने व कानूनी कार्रवाई करने के लिए ये भी जरूरी नहीं कि उसके द्वारा नियम तोड़े जाने से किसी का नुकसान हुआ हो या नुकसान हो सकता हो।
क्या है सजा


1- आपके द्वारा सरकार के आदेश का उल्लंघन किए जाने से मानव जीवन, स्वास्थ्य या सुरक्षा, आदि को खतरा होता है, तो कम से कम 6 महीने की जेल या 1000 रुपए जुर्माना या दोनों। दोनों ही स्थिति में जमानत मिल सकती है।


2- सरकार या किसी अधिकारी द्वारा दिए गए आदेशों का उल्लंघन करते हैं, या आपसे कानून व्यवस्था में लगे शख्स को नुकसान पहुंचता है, तो कम से कम एक महीने की जेल या 200 रुपए जुर्माना या दोनों।


धारा 271ः भारतीय दंड संहिता की धारा 271, क्वारंटाइन के नियम की अवज्ञा (Disobedience) से सम्बंधित प्रावधान है। यह एक वह प्रावधान है, जो जब लॉकडाउन ऑपरेशन में हो, तब लागू हो सकता है। आमतौर पर क्वारंटाइन का तात्पर्य, एक अवधि, या अलगाव के एक स्थान से है, जिसमें लोग या जानवर, जो कहीं ओर से आए हैं, या संक्रामक रोग के संपर्क में आए हैं, उन्हें रखा जाता है।


क्या है सजाः इस प्रावधान के तहत, छह महीने तक का कारावास या जुर्माने या दोनों से दंडित किया जा सकता है। भारतीय दंड संहिता, 1860 की धारा 271 के अंतर्गत यह कहा गया है कि, यदि कोई व्यक्ति जानबूझकर नियम की अवज्ञा करता है, जिसके तहत, कुछ स्थानों को, जहां कोई इन्फेक्शस फैला है, उसे अन्य स्थानों से अलग किया जाता है, तो ऐसा व्यक्ति, इस प्रावधान के तहत दोषी ठहराया जा सकता है।


धारा 269ः इसी प्रकार भारतीय दंड संहिता में अन्य दांडिक प्रावधान भी है जैसे धारा 269, इस धारा के अनुसार यदि कोई व्यक्ति अवैधानिक तरीके से अथवा लापरवाही पूर्वक ये जानते हुए ऐसा कृत्य करता है जिससे किसी जानलेवा बीमारी के फैलने का खतरा हो सकता है तो यह दंडनीय अपराध है।


क्या है सजाः छः माह तक की जेल या जुर्माना या दोनों से दंडनीय है।


धारा 270ः इसके अंतर्गत कोई व्यक्ति द्वेषतापूर्वक ऐसा कोई कृत्य करता है ये जानते हुए की ऐसा करने से कोई जानलेवा बीमारी फैलेगी तो यह दंडनीय अपराध है। परंतु यह कृत्य द्वेषतापूर्वक किया जाना पाए जाने पर ही मामला बनता है अन्यथा नहीं।


दो वर्ष की जेल और जुर्माना या दोनों से दंडनीय है।


धारा 144 कैसे अलग है कर्फ्यू सेः धारा 144 लगने का मतलब है कि किसी जगह पर पांच या उससे ज्यादा लोग एक साथ जमा नहीं हो सकते। आप अकेले हैं तो आ जा सकते हैं लेकिन कर्फ्यू में ऐसा नहीं है। अगर किसी जरूरी काम से निकलना होगा तो पुलिस से अनुमति लेनी होगी।


क्या है सजाः उल्लंघन करने पर धारा 188 भारतीय दंड विधान के अंतर्गत केस दर्ज किया जाता है। सजा छः माह तक कारावास अथवा एक हजार रुपये तक जुर्माना अथवा दोनों।


जेल में खूनी संघर्ष,1 कैदी की हत्या

मुकेश कुमार


हल्द्वानी। लॉक डाउन के बीच हल्द्वानी जेल से खूनी संघर्ष की खबर आ रही है जहां हल्द्वानी जेल में बंद दो कैदी आपस में भिड़ गए इस खूनी संघर्ष में एक कैदी की हत्या कर दी गई कैदियों के बीच संघर्ष की खबर के बाद जेल प्रशासन में हड़कंप मचा हुआ है। आनन-फानन में जेल प्रशासन ने एक कैदी के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज कराया है। बताया जा रहा है कि रविवार की रात जब कैदी बैरिक में टीवी देख रहे थे तो छेड़खानी के आरोप में जेल में बंद कैदी आलोक नेगी और डकैती के आरोप में जेल में बंद सानू के बीच किसी बात को लेकर झगड़ा हो गया, जिसके बाद गुस्साए कैदी आलोक नेगी ने कैदी सानू को अपने घुसे से कई बार मुंह पर और छाती पर वार किए। जिसके बाद कैदी सानू गश खाकर गिर पड़ा।


इस घटना की जानकारी कैदियों ने जेल प्रशासन को दी तो मौके पर पहुंचे जेल प्रशासन ने तत्काल घायल कैदी सानू को अस्पताल पहुंचाया जहां उसे चिकित्सकों ने मृत घोषित कर दिया जिसके बाद जेल प्रशासन द्वारा छेड़खानी के आरोप में बंद दमुआढ़ूंगा निवासी कैदी आलोक नेगी के ऊपर हत्या का मुकदमा दर्ज कराया है। वहीं मृतक कैदी बाजपुर का रहने वाला है वरिष्ठ जेल अधीक्षक मनोज आर्या का कहना है कि मृतक की पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद उसका शव परिजनों को सौंप दिया जाएगा फिलहाल जेल में हुई इस वारदात के बाद पूरे शहर में सनसनी फैली है।


डीएम ऑफिस, सोशल डिस्टेंसिंग का सच

बरेली। लॉकडाउन 30 अप्रैल तक बढ़ने की आशंका को देखते हुए अब लोग लॉकडाउन में फंसे अपनों को घर लाने के लिए परेशान हो गए हैं। ई-पास व्यवस्था गड़बड़ होने पर लोग पास बनवाने के लिए कलेक्ट्रेट के चक्कर लगा रहे हैं। सोमवार को पास बनवाने के लिए अपर जिलाधिकारी प्रशासन के कार्यालय में काफी भीड़ रही। सोशल डिस्टेंसिंग के नियम का कलेक्ट्रेट में पालन नहीं किया जा रहा है। इससे कोरोना संक्रमण फैलने का खतरा हो सकता है। इस वाक्य  पर गंभीरता न लेने के भयानक परिणाम हो सकते है। प्रशासन की इस लापरवाही का भयानक परिणाम जनपद निवासियोंं को झेलना पड़ सकता है।


 


शराब पीने से 2 की मौत, 12 गंभीर

सुनील पुरी


कानपुर। लॉकडाउन के बीच सजेती थाना क्षेत्र के मवई भच्छन गांव में जहरीली शराब पीने से रविवार सुबह दो लोगों (सगे साढ़ू) की मौत हो गई, जबकि ग्राम प्रधान समेत 12 लोगों की हालत बिगड़ गई। हैलट में भर्ती नौ लोगों में सात की हालत गंभीर बनी हुई। तीन लोगों का सीएचसी में इलाज चल रहा है।
मौके पर डीएम, डीआईजी और जिला आबकारी अधिकारी पहुंचे। पूर्व ग्राम प्रधान समेत तीन लोगों को हिरासत में लेकर पुलिस पूछताछ कर रही है। सजेती एसओ मुकेश कुमार सोलंकी के मुताबिक शुक्रवार शाम गांव निवासी ट्रक चालक अनूप सचान (30) घाटमपुर से देसी शराब लेकर लौटा था।गांव में अनूप, उसके साढ़ू अंकित सचान (32) के अलावा ग्राम प्रधान रणधीर सिंह यादव, पुत्तन, लालजी विश्वकर्मा, प्रिंस सविता, गोरेलाल उर्फ रमन सचान, विवेक विश्वकर्मा, अजीत उर्फ सद्दाम, गंगू यादव, भानदास सचान और ओमेंद्र उर्फ ओमवरी ने शराब पी। पास के गांव गुजैला निवासी रानू सिंह और सद्दाम ने भी अनूप से शराब लेकर पी। शनिवार को दोबारा सभी ने शराब पी। रात करीब 11 बजे एक-एक कर सभी की हालत बिगड़ने लगी। ग्रामीण अनूप और अंकित को सीएचसी के बाद रविवार सुबह हैलट ले गए। यहां दोनों को मृत घोषित कर दिया गया। गंगू यादव, भानदास और ओमेंद्र को अभी सीएचसी में भर्ती हैं। बाकी का हैलट में इलाज चल रहा है। ग्राम प्रधान समेत सात लोगों की हालत गंभीर बनी हुई है।


उत्तर-प्रदेश में संक्रमितो की संख्या 519

लखनऊ। देश के साथ-साथ उत्तर प्रदेश में भी कोरोना वायरस का प्रकोप बढ़ता ही जा रहा है। प्रदेश में सोमवार को कुल संक्रमितों की संख्या 519 हो गई, जो प्रशासन के लिए चिंता का विषय है। इनमें से सबसे ज्यादा 134 मामले आगरा के हैं। सभी हॉटस्पॉट इलाकों को सील किए जाने के बाद भी नए संक्रमित सामने आ रहे हैं कोरोना संक्रमण का हॉटस्पॉट बन चुके आगरा में सोमवार सुबह 30 नए पॉजिटिव मामले सामने आए हैं। डीएम प्रभु एन सिंह ने इस बारे में जानकारी देते हुए बताया कि इनमें से 14 संक्रमित फतेहपुर सीकरी के गाइड के परिवार के हैं। वहीं बाकी लोग पारस अस्पताल और डॉ. प्रमोद मित्तल के नर्सिंग होम से संक्रमित हुए हैं। इसी के साथ जिले में कुल संक्रमितों की संख्या 134 हो गई है।


वाराणसी पुलिस लॉक डाउन पर सख्त

वाराणसी पुलिस का चला चाबुक लॉक तोड़ने वालों पर हुई सख्त कार्यवाही


 सुनील मिश्रा 


वाराणसी। आमजन के स्वास्थ्य सुरक्षा को लेकर पुलिस ने उठाया कदम।लगातार करोना के संक्रमण के बढ़ने के खतरे को भाप कर वाराणसी में संक्रमण पर रोकथाम की कोशिश पर लगातार तत्पर वाराणसी प्रशासन के द्वारा लॉक डाउन पर घर के अंदर रहने के आदेश लगातार देने के बाद भी लगातार लॉक डाउन के उल्लंघन के बाद आज वाराणसी पुलिस के द्वारा लॉक डाउन को तोड़ने वालों पर चाबुक चला इसके तहत आज वाराणसी के थाना सिगरा के युवा रोडवेज चौकी प्रभारी मिर्जा रिजवान वेग ने लॉक डाउन की अवहेलना करने पर वाराणसी के थाना सिगरा के परेड कोठी निवासी गोरख पुत्र वासुदेव को गिरफ्तार किया गिरफ्तार करने के बाद अभियुक्त पर धारा 188 के उल्लंघन में चालान किया गया।


पॉजिटिव मिला तो होगा इलाका सील

नई दिल्ली। राजधानी दिल्ली में कोरोना पाॅजिटिव मामलों में लगातार वृद्धि होने पर केजरीवाल सरकार ने और कड़े कदम उठाने का फैसला लिया है। किसी भी इलाके में एक भी संक्रमित मिलने पर पूरे इलाके को सील कर दिया जाएगा।
सोमवार को सीएम केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली में अभी तक 43 इलाकों को सील किया गया है, अब किसी भी इलाके में एक भी कोरोना पाॅजिटिव मिलने पर उस पूरे इलाके को भी सील कर दिया जाएगा। दिल्ली में ऐसे कई इलाकों की पहचान भी कर ली गई है।



8 किमी नीचे था 'भूकंप' का केंद्र

नई दिल्ली। राष्ट्रीय भूकंप विज्ञान केंद्र (एनसीएस) के अनुसार भूकंप की मध्यम तीव्रता के झटके शाम 5.45 बजे महसूस किए गए। इसका केन्द्र एनसीआर क्षेत्र में उत्तर में 28.7 डिग्री अक्षांश और पूर्व में 77.2 डिग्री देशांतर पर भू-सतह से आठ किमी गहराई में स्थित था।उल्लेखनीय है कि भूकंप की अधिक तीव्रता के लिहाज से देश को पांच जोन में बांटा गया है। दिल्ली, अधिक तीव्रता वाले चौथे जोन में स्थित है। केन्द्र के वरिष्ठ वैज्ञानिक जीएल गौतम ने बताया कि भूकंप का केन्द्र उत्तर पूर्वी दिल्ली के वजीराबाद क्षेत्र में जमीन से आठ किमी गहराई में केन्द्रित था। उन्होने बताया कि भूकंप के झटके एनसीआर के पूर्वी इलाकों में नोएडा, गाजियाबाद और फरीदाबाद में भी महसूस किये गये। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट कर कहा, ‘दिल्ली में भूकंप के झटके महसूस किये गये। आशा है सभी लोग सुरक्षित होंगे। मैं आप सभी में से हर एक के सुरक्षित होने की दुआ करता हूं।’


भूकंप के कारण भयभीत लोग अपने घरों से बाहर आ गए। स्थानीय प्रशासन ने अब तक जान माल के नुकसान की कोई सूचना नहीं मिलने की जानकारी दी है। पूर्वी दिल्ली के निवासी एस दामले ने बताया कि उन्होंने भूकंप आने पर अपनी कुर्सी में कंपन महसूस किया। यह कुछ पल के लिये डरा देने वाला अनुभव था। उल्लेखनीय है कि कोरोना संकट के कारण देशव्यापी लॉकडाउन लागू है। इस वायरस के संक्रमण से बचने और इसे फैलने से रोकने के लिये लॉकडाउन के तहत लोग घरों में ही रहने को मजबूर हैं। दिल्ली में 2004 में 2.8 और इससे पहले 2001 में 3.4 तीव्रता का भूकंप (Earthquake) आया था।


शहीदों को अर्पित किए श्रद्धा सुमन

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जलियांवाला बाग में हुए नरसंहार की 101वीं बरसी पर सोमवार को शहीदों को श्रद्धांजलि दी। उन्होंने कहा,  ‘‘देश वीरों के साहस को हमेशा याद रखेगा। उनका शौर्य भारतीयों के लिए सालों तक प्रेरणा देता रहेगा।’’  मोदी ने इस मौके पर ट्वीट किया। उन्होंने लिखा- ‘‘जलियांवाला बाग में निर्दयता से मार दिए गए शहीदों को मैं नमन करता हूं। हम उनके साहस और बलिदान को कभी नहीं भूलेंगे। उनकी वीरता आने वाले सालों में भारतीयों को प्रेरित करती रहेगी।’’ मोदी ने अपनी जलियांवाला बाग मेमोरियल यात्रा की फोटो भी शेयर की है।13 अप्रैल 1919 को अमृतसर में बैसाखी के मौके पर बाग में जमा हुए लोगों पर ब्रिट्रिश आर्मी के जनरल डायर के आदेश पर उसके सिपाहियों ने मशीन गन से गोलियां चला दी थी। बाग में जमा लोग शांतिपूर्ण प्रदर्शन के लिए जमा हुए थे। वे पुलिस द्वारा गिरफ्तार किए गए दो भारतीय नेता सत्य पाल और सैफुद्दीन किचलू को आजाद करने की मांग कर रहे थे।


हत्याकांड में एक हजार से ज्यादा की जान गई थी


जलियांवाला बाग हत्याकांड में करीब एक हजार से ज्यादा लोग शहीद हुए थे। इनमें बच्चे और महिलाएं भी थीं। वहीं, ब्रिट्रिश सरकार में दर्ज रिकॉर्ड के मुताबिक, 379 लोगों की मौत हुई थी। करीब 1200 लोग जख्मी हुए थे। मुख्यमंत्री ने घर में रहकर अरदास करने को कहा है। मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने ट्विटर पर लाइव होकर कोरोना से निपटने के लिए लोगों से सहयोग मांगा है। उन्होंने लोगों से सोशल डिस्टेंस को अपनाने और डॉक्टरों की बात मानने की अपील की। बैसाखी के दिन सभी लोगों से दिन के 11 बजे अपने घरों में रह कर अरदास करने के लिए कहा है।


इस बार शहीदों को घर से श्रद्धांजलि 
पिछले साल जलियांवाला बाग की घटना के 100 पूरे हो गए थे। 2020 में केंद्र सरकार ने इसके शताब्दी वर्ष को राष्ट्रीय स्तर पर मनाने का संकल्प लिया था। इसके तहत बाग के संरक्षण का काम जारी था, लेकिन कोरोनावायरस महामारी के बीच लागू किए गए लाॅकडाउन में यहां 30 अप्रैल तक सब कुछ बंद रहेगा। इस कारण शहीदों को बाग में इस बार श्रद्धा के दो फूल भी नहीं मयस्सर होने के आसार नहीं हैं। जलियांवाला बाग शहीद परिवार समिति के प्रधान महेश बहल और फ्रीडम फाइटर फाउंडेशन के प्रधान सुनील कपूर का कहना कि इस बार घर में ही पूरा परिवार शहीदों को याद करेगा।


 


पाक में भुखमरी, विश्व से लगाई गुहार

इस्लामाबाद। कोरोना वायरस के चलते दुनिया भर में कोहराम मचा है। देश के सरकारों के पास एक तरफ कोरोना वायरस से लड़ने की चुनौती है तो दूसरी ओर अपनी अर्थव्यवस्था संभालना भी है। इस बीच पहले से ही आर्थिक तंगी की मार झेल रहे पाकिस्तान में हालात दिन ब दिन खराब हो रहे हैं। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने विश्व समुदाय से मदद की गुहार लगाई है और कहा है कि कोरोना के चलते देश में भूखमरी के हालात पैदा हो गए हैं इसलिए उन्हें कर्ज में राहत दी जाए। इमरान खान रविवार को एक वीडियो ट्वीट करते हुए कहा है, “मैं अंतरराष्ट्रीय समुदाय, संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद और अंतरराष्ट्रीय वित्तीय संस्थानों से अपील करता हूं कि जिस चुनौती के साथ विकासशील देश कोविड-19 महामारी का सामना कर रहे हैं उन्हें साकारात्मक प्रतिक्रिया दी जाए।


इमरान ने अपने विडियो संदेश में कहा, ”मैं आज वैश्विक समुदाय के सामने तक अपनी बात पहुंचना चाहता हूं। कोविड-19 के खिलाफ हम दो तरह की प्रतिक्रिया देख रहे हैं- एक विकसित देशों में और एक विकासशील देशों में विकसित देश पहले लॉकडाउन के जरिए कोरोना को रोक रहे हैं और बाद में वो इससे प्रभावित हुई अर्थव्यवस्था को संभाल रहे हैं। लेकिन, विकासशील देशों में कोरोना वायरस को रोकने और आर्थिक चुनौती के साथ साथ सबसे बड़ी समस्या ये है कि यहां लोग भूखे मर रहे हैं।”


बता दें कि पाकिस्तान में लॉकडाउन (Lockdown) चल रहा है और अब तक यहां 5,183 कोरोना के मरीजों की पुष्टि हो चुकी है, जिसमें से आधे मामले अकेले पंजाब प्रांत से दर्ज किए गए हैं। वहीं अब तक 86 लोगों की जानें गई हैं।


सरकार ने बनाए 2 वर्ग, समझें

नई दिल्ली। सभी जिलों में 30 अप्रैल तक लॉकडाउन रहेगा। जिलों के दो वर्ग होंगे। ए वर्ग में वे जिले होंगे जहां 14 अप्रैल तक एक भी कोरोना पॉजिटिव केस नहीं मिला है। वर्ग बी में वह जिलेे होंगे जहां पॉजिटिव केस मिल चुके हैं या 14 अप्रैल तक और मिलने की आशंका है।


ए वर्ग वाले जिलों में कुछ रियायतें दी जाएंगी।
बी वर्ग वाले जिलों में प्रतिबंध पूरी तरह से जारी रहेगा।


2.) जिलों में चिह्नित किए गए हॉटस्पॉट वाले क्षेत्रों में किसी भी तरह का मूवमेंट पूरी तरह से प्रतिबंधित होगा। यहां प्रशासन राशन और अन्य जरूरी सामान की व्यवस्था करेगा।


3). 30 अप्रैल तक प्रदेश में कहीं भी पांच से अधिक लोगों के जमा होने पर प्रतिबंध रहेेगा और धारा 144 लागू रहेगी।


4). 31 मई तक पूरे प्रदेश में सार्वजनिक स्थानों पर मास्क पहनना अनिवार्य होगा और सोशल डिस्टेंसिंग की नीति भी इसी तारीख तक लागू रहेगी।


6) वर्ग बी के जिलों की सीमाएं सील रहेंगी और सामान का परिवहन भी जिलों की सीमा के अंदर नहीं होगा। वर्ग ए के जिलों में जिलाधिकारी की अनुमति से परिवहन में रियायत दी जा सकती है। वर्ग ए और वर्ग बी वाले जिलों के बीच कोई आवागमन नहीं होगा। वर्तमान में लागू पास मान्य होंगे। स्वास्थ्य परीक्षण आदि जारी रहेगा।


7). हॉटस्पॉट वाले इलाकों को छोड़कर जोखिम का आकलन कर डीएम निर्माण, औद्योगिक उत्पादन और खनन की अनुमति दे सकेंगे।


8). स्टांप एवं रजिट्रेशन की सभी जिलों में नियमों के अधीन अनुमति।


 ये भी हुआ तय


9). ये रहेंगे बंद : होटल, धर्मशाला, होम स्टे, मॉल, सिनेमा हॉल, मल्टीप्लेक्स, जिम, रेस्टूरेंट, बार, धार्मिक संस्थान आदि बंद रहेंगे। जिलाधिकारी की अनुमति के बिना किसी कार्मिक या अन्य व्यक्ति को हटाया नहीं जाएगा।


10). हॉटस्पॉट को छोड़कर इनको रहेगी अनुुमति : खेती किसानी, बागवानी, मौन पालन, पशुपालन, डेयरी, मत्स्य पालन, कटाई बुवाई आदि को अनुमित रहेगी। राज्य की सीमा से बाहर और वर्ग बी वाले जिलों से श्रमिक नहीं लाए जा सकेंगे।


11). 15 मई तक प्रदेश के सभी स्कूल, कॉलेज और अन्य शिक्षण संस्थान बंद रहेंगे।


12). अस्पतालों आदि को छोड़कर 15 मई तक प्रदेश मे एयर कंडीशनर के उपयोग पर भी रोक।


13) रियायत : वर्ग ए वाले जिलों के बीच सात बजे से लेकर एक बजे के बीच खुद के वाहनों से यात्रा हो सकेगी। वर्ग ए और वर्ग बी वाले जिलों के बीच वाहन नहीं चलेेंगे, केवल आवश्यक सामान की ढुलाई हो सकेगी।


14). वर्ग ए वाले जिलों सहित अगर कहीं कोरोना संक्रमण के नए मामले सामने आते हैं तो प्रतिबंध अधिक सख्त किए जाएंगे।


15). क्वारंटीन होने वालों को इधर-उधर आने-जाने की इजाजत नहीं होगी।


16). सभी निजी अस्पताल और अन्य चिकित्सीय संस्थाएं प्रदेश में खुली रहेंगी और सोशल  डिस्टेंस नीति का पालन होगा।


17) सोशल डिस्टेंस का पालन करते हुए मनरेगा को वर्ग ए जिलों में अनुमति होगी।


पीएम आज राष्ट्र को संबोधित करेंगे

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए किये गए 21 दिन के लॉकडाउन के आखिरी दिन मंगलवार की सुबह 10 बजे देश को संबोधित करेंगे ।
कोरोना संक्रमण कोविड 19 की रोकथाम और देश में लॉकडाउन को लेकर अभी हाल ही में कई राज्यों के मुख्यमंत्रियों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए की गई चर्चा में पीएम मोदी ने देश में कोरोनावायरस के संक्रमण की स्थिति पर बातचीत की थी । पीएम के साथ इस मीटिंग में कई मुख्यमंत्रियों ने लॉक डाउन को आगे बढ़ाने की अपील की थी. इसके बाद कई राज्यों ने अपनी तरफ से ही लॉक डाउन को 30 अप्रैल तक बढ़ा दिया है, ऐसे में पीएम मोदी का देश के नाम संबोधन इस लिहाज से भी महत्वपूर्ण रहेगा कि 21 दिन के लॉक डाउन के बाद हुए देश के लोगों के लिए किस तरह की नीतियों की घोषणा करते हैं ।


भारतीय इतिहास में दर्ज 'काला दिन'

आइये इस हत्या कांड के शताब्दी वर्ष में उन 15 सौ निहत्थे शहीदों को नमन करें, जिन्हें जनरल डायर ने गोलियों से भून दिया था…


 नितिन सिन्हा 


13 अप्रैल सन 1919 को अमृतसर के जलियांवाला बाग में हजारों की संख्या में लोगों इक्ट्ठा हुए थे.इस दिन इस शहर में कर्फ्यू लगाया गया था लेकिन इस दिन बैसाखी का त्योहार भी था. जिसके कारण काफी संख्या में लोग अमृतसर के हरि-मन्दिर साहिब यानी स्वर्ण मंदिर आए थे. जलियांवाला बाग,स्वर्ण मंदिर के करीब ही था. इसलिए कई लोग इस बाग में घूमने के लिए भी चले गए थे और इस तरह से 13 अप्रैल को करीब 20,000 लोग इस बाग में मौजूद थे.जिसमें से कुछ लोग अपने नेताओं की गिरफ्तारी और रॉलेट एक्ट(काला कानून)के मुद्दे पर गांधीवादी विरोध पर शांतिपूर्ण रूप से सभा करने के लिए भी एकत्र हुए थे.वहीं कुछ लोग अपने परिवार के साथ यहां पर घूमने के लिए भी आए हुए थे।


इस दिन करीब 12:40 बजे, डायर को जलियांवाला बाग में होने वाली सभा की सूचना मिली थी. ये सूचना मिलने के बाद डायर करीब 4 बजे अपने दफ्तर से करीब 150 सिपाहियों के साथ इस बाग के लिए रवाना हो गए थे. डायर को लगा की ये सभा दंगे फैलाने के मकसद से की जा रही थी.इसलिए इन्होंने इस बाग में पहुंचने के बाद लोगों को बिना कोई चेतावनी दिए,अपने सिपाहियों को गोलियां चलाने के आदेश दे दिए. कहा जाता है कि इन सिपाहियों ने करीब 10 मिनट तक गोलियां चलाई थी.वहीं गोलियों से बचने के लिए लोग भागने लगे. लेकिन इस बाग के मुख्य दरवाजे को भी सैनिकों द्वारा बंद कर दिया गया था और ये बाग चारो तरफ से 10 फीट तक की दीवारों से बंद था. ऐसे में कई लोग अपनी जान बचाने के लिए इस बाग में बने एक कुएं में कूद गए. लेकिन गोलियां थमने का नाम नहीं ले रही थी और कुछ समय में ही इस बाग की जमीन का रंग लाल हो गया था।


सहादत को नमन के सांथ उन्हें समर्पित कुछ पंक्तियाँ…


इन इतर कयासों को छोड़ो, मैं खूंरेजी का किस्सा हूँ
हूँ ख़्वार मगर पाकीज़ा हूँ, मैं जलियाँ वाला हिस्सा हूँ।
नस-नस में लावा बहने की, ये रुधिर फुलंगों की बातें
क्षत-विक्षत बिखरे रक्त सने, अपनों के अंगों की बातें।
फूलों के कुचले जाने की, गुंचों के मसले जाने की
कुचलों को और कुचलने की, गिरतों को और गिराने की।
अपने हिस्से की साँसों की, अपनी निज़ता की बातों की
बारूदों की ज़द में मचले, बेख़ौफ़ उठे अरमानों की।
अंतिम निर्णय का शंखनाद, मैं विद्रोहों का किस्सा हूँ
मतवालों की मस्ती हूँ मैं, जलियाँ वाला हिस्सा हूँ।
ग़ुस्ताख़ी मत करना कोई, चौकंद यहाँ पर रहना तुम
ख़ामोशी से ख़ामोशी को, कुछ कह लेना कुछ सुनना तुम। धीरे-धीरे हौले-हौले,जेहाद की आवाज़ें सुनना
ज़िद में मचलीं आज़ादी की, उन्माद की आवाज़ें सुनना।
महसूस करो तो कर लेना, स्व-राज की खूनी तनातनी
अरमान उठे तो भर लेना,मुट्ठी में मिट्टी लहू सनी।
कण कण फिर बोल उठेगा मैं, किस आहुति का किस्सा हूँ
हूँ ख़्वार मगर पाकीज़ा हूँ, मैं जलियाँ वाला हिस्सा हूँ।


भारतः डेंजर जोन में पहुंचे 3 शहर

अकाशुं उपाध्याय


नई दिल्ली। भारत में कोरना संक्रमितों की संख्या 9 हजार को पार हो गई। जिस तेजी से रोकने की कोशिशें हो रही है, उससे कहीं तेजी के साथ संक्रमण के आँकड़ें बढ़ते जा रहे हैं। देश में तीन ऐसे शहर हैं जो डेंजर जोन की तरह दिखाई देने लगे हैं। यहाँ जिस तेजी से संक्रमितों की संख्या बढ़ रही है, मौतें हो रही वह बहुत ही खतरनाक है।


भारत के ये तीन शहर हैं आर्थिक राजधानी मुंबई(महाराष्ट्र), देश की राजधानी दिल्ली और मिनी मुंबई के नाम से मशहूर मध्यप्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर शामिल है। इन शहरों में कोरोना के सर्वाधिक मरीज सामने आए हैं और लगातार यहाँ संक्रमितों की संख्या बढ़ती जा रही है। आज ही सुबह मुुंबई में 59, इंदौर में 22 नए मरीज सामने आए हैं। आँकड़ों की बात करे तो मुँबई में 13 अप्रेल की सुबह संक्रमितों की संख्या 1357, जबकि मृतकों की संख्या 93 पहुँच गई थी। वहीं दिल्ली में 1154, जबकि मृतकों की संख्या 24 पहुँच गई थी और इंदौर में तो अब तक 328 मरीज मिल चुके हैं, जबकि मरने वालों की संख्या 33 हो चुकी है।


देश की स्थिति- भारत की आज की स्थिति की बात करे तो आँकड़ा 9 हजार 2 सौ को पार कर चुका है। सर्वाधिक खराब स्थिति मराष्ट्र की है। यहाँ संक्रमितों की संख्या 2 हजार से अधिक है। वहीं महाराष्ट्र के बाद दिल्ली और तमिलनाडु में संक्रमितों की संख्या हजार को पार हो चुकी है, जबकि राजस्थान हजार के करीब है। वहीं मध्यप्रदेश में तेजी केस सामने आ रहे हैं। मध्यप्रदेश में 500 से अधिक मरीज अब तक आ चुके हैं।


असम-मेघालय में शराब की बिक्री

नई दिल्ली। भारत में कोविड-19 से अब तक 273 लोगों की मौत हो चुकी है।कोरोना संक्रमण के 8447 मामले सामने आए हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ से रविवार को जारी ताजा आंकड़ों के मुताबिक, बीते 24 घंटे में देश में कोरोना के कुल 918 नए मामले आए हैं और 31 लोगों की जान गई है।हालांकि थोड़ी राहत वाली बात यह है कि इस बीमारी से अब तक 765 लोग ठीक हुए हैं।बता दें कि देश में कोरोना के बढ़ते मामले को देखते हुए 21 दिनों का लॉकडाउन किया गया और यह 14 अप्रैल तक रहेगा।लेकिन इस बीच देश में कोरोना की स्थिति को देखते हुए 30 अप्रैल तक लॉकडाउन का बढ़ाया जा सकता है।


कोरोनावायरस को लेकर लॉकडाउन जारी है।छत्तीसगढ़ में भी पहले मदिरा दुकानों को खोलने का निर्णय लिया गया था। लेकिन मौजूदा हालात को देखते हुए प्रदेश सरकार ने अपने कदम पीछे खिंचते हुए शराब दुकानों को बंद रखने का मन बना लिया।वही 21 दिनों के लॉकडाउन की घोषणा की गई थी, जिसे बढ़ाने पर विचार हो रहा है।कई राज्यों ने 30 अप्रैल तक लॉकडाउन को बढ़ा भी दिया है। इस बीच असम और मेघालय की सरकार ने सोमवार से शराब की दुकानों को खोलने का फैसला लिया है। असम में शराब की दुकानें सप्ताह में सातों दिन अब खुलेंगी।जबकि मेघालय में अभी तक सिर्फ शुक्रवार तक खोलने का ही फैसला लिया गया है। इस दौरान सोशल डिस्टेंसिंग का भी ध्यान रखा जाएगा। मेघालय में दूर दराज में रहने वाले लोगों को होम डिलिवरी की सुविधा भी मुहैया कराई जाएगी।


महिला-पुरुषों ने पुलिस पर हमला किया

बृजेश केसरवानी


प्रयागराज। उत्तर प्रदेश में प्रयागराज जिले के एक गांव में संपत्ति विवाद को लेकर एक पुलिस दल पर हमला करने के आरोप में सात महिलाओं और तीन अन्य लोगों को गिरफ्तार किया गया है। बीकापुर गांव में शनिवार देर रात हुई इस घटना के दौरान महिलाओं ने कथित रूप से एक कांस्टेबल का गला घोंटने की कोशिश की। सराय इनायत के इंस्पेक्टर एस.के.पांडेय ने कहा, “पुलिस रिस्पांस व्हीकल (पीआरवी) पर तैनात तीन पुलिसकर्मियों की एक टीम को जानकारी मिली कि दो परिवारों की महिलाएं एक संपत्ति विवाद पर लड़ रही हैं।” उन्हें बताया गया था कि महिलाएं एक-दूसरे पर ईंट फेंक रही थीं इसलिए मामले को संभालने के लिए वे तत्काल वहां पहुंचे।


पुलिसकर्मियों ने महिलाओं को शांत करने की कोशिश की। तभी दो आरोपियों दीपक और भोला यादव ने महिलाओं को उकसाया, जिन्होंने पुलिस टीम पर ईंट और पत्थरों से हमला कर दिया। हमले में एक कांस्टेबल ज्ञान प्रकाश यादव घायल हो गए। कथित रूप से अनियंत्रित भीड़ ने इस कांस्टेबल को पकड़ लिया और उसका गला घोंटने की कोशिश की। अन्य ग्रामीणों द्वारा इस बात की सूचना दिए जाने के बाद, चार पुलिस स्टेशनों सराय इनायत, फूलपुर, बहरिया और थरवई से बल मौके पर पहुंचे और उन्होंने पुलिसकर्मियों को बचाया। घायल कांस्टेबल को इलाज के लिए हनुमानगंज के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया है।घायल कांस्टेबल की शिकायत के आधार पर, रविवार को 10 नामजद और पांच अन्य के खिलाफ सराय इनायत पुलिस स्टेशन में मामला दर्ज किया गया था।


आरोपियों की पहचान पूजा यादव, नीलम यादव, रिंकू यादव, सुनीता यादव, पूनम यादव, प्रभाती, कमलेश देवी और दीपक यादव और संजय यादव के रूप में हुई है, जो कि सभी बीकापुर के रहने वाले थे।


कैडियो के सामने आजीविका का संकट

टूर्नामेंट रद कैडियों के सामने आजीविका का संकट


मनोज कुमार


नई दिल्ली। कोरोना वायरस के कारण देशव्यापी लॉकडाउन के चलते पेशेवर गोल्फ टूर ऑफ इंडिया (पीजीटीआइ) टूर्नामेंट रद होने और गोल्फ कोर्स बंद होने से दिहाड़ी पर काम कर रहे सैकड़ों कैडियों (गोल्फर के सहायक) के सामने आजीविका का संकट पैदा हो गया है। देश में भारतीय गोल्फ यूनियन से रजिस्टर्ड 231 गोल्फ कोर्स हैं। इसमें 18,000 से 20,000 के करीब कैडी अपनी सेवा देते हैं। अकेले उत्तर प्रदेश में ही करीब डेढ़ दर्जन गोल्फ कोर्स में 700-800 कैडी काम करते हैं। दिल्ली-एनसीआर में करीब 2500 कैडी काम करते हैं जिनमें अधिकांश प्रवासी है। कई नियमित कैडी है तो कई पार्ट टाइम काम करते हैं।


दो बार एशियाई टूर के विजेता गोल्फर राशीद खान का मानना है कि अगर हालात में सुधार नहीं आया तो सबसे ज्यादा गाज कैडियों पर गिरेगी। कैडी रोज कमाते हैं ओर अब उनकी कमाई बंद हो गई है। उन्हें परिवार पालने हैं, किराया देना है। हालात नहीं सुधरने पर उनके लिए काफी कठिन हो जाएगा। चंडीगढ़ के अक्षय शर्मा और 2015 जूनियर विश्व गोल्फ चैंपियन शुभम जगलान के कैडी रहे मंटू ने कहा कि हालात सामान्य नहीं होने पर 95 प्रतिशत कैडियों पर असर पड़ेगा। हमारे देश में पांच प्रतिशत कैडी ही 20-25 हजार रुपये महीने कमा पाते हैं। बाकी सभी की हालत खराब है। करीब 50-60 कैडी ही शीर्ष गोल्फरों के साथ नियमित यात्रा करते हैं और कुछ को उनसे वेतन भी मिलता है लेकिन बाकी दिहाड़ी पर काम करते हैं।


जूडो महासंघ के निदेशक संक्रमित

मनोज कुमार


टोक्यो। जापान जूडो महासंघ के प्रबंध निदेशक सोया नाकाजातो कोरोना वायरस से संक्रमित हो गए हैं, जिससे फेडरेशन में संक्रमित लोगों की संख्या नौ पहुंच गयी है। ऑल जापान जूडो महासंघ ने रविवार को यह जानकारी देते हुए बताया कि 62 वषीर्य नाकाजातो को पिछले रविवार को बुखार हो गया था। उनका बुधवार को कोरोना टेस्ट हुआ, जिसमें वह पॉजिटिव पाए गए। फेडरेशन के टोक्यो के बंक्यो वार्ड स्थित मुख्यालय में काम करने वाले कर्मियों में कोरोना संक्रमण का यह नौंवा मामला है। फेडरेशन ने अपना मुख्यालय 30 मार्च को बंद कर दिया था, लेकिन अगले दिन वहां एक बैठक हुई जिसमें नाकाजातो शामिल हुए थे।


संक्रमित कैदी व पुलिसकर्मी क्वॉरेंटाइन

सतना। कोराना का संक्रमण पूरे देश में तेजी से फैल रहा है, हालात अब काबू से बाहर होते नजर आ रहा है। आज भी भारत में 900 से अधिक संक्रमितों की पुष्टि हुई है। इसी बीच मध्यप्रदेश से एक बड़ी खबर सामने आई है। खबर है कि सतना सेंट्रल जेल में दो कैदी कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। बता दें जेलों संक्रमण को रोकने के लिए सरकार ने कैदियों को पेरोल और अग्रिम जमानत पर रिहा किया है, इसके बाद भी संक्रमण रोका नहीं जा सका। मिली जानकारी के अनुसार बीते दिनों इंदौर जेल से 4 कैदियों को सतना जेल शिफ्ट किया था, इन्हीं में से दो मरीजों को कोरोना संक्रमित होने की पुष्टि हुइ है। फिलहाल दोनों कैदियों को जेल में ही क्वारंटीन किया गया है। वहीं, दूसरी ओर संपर्क में आए सभी पुलिसकर्मियों को भी होम क्वारंटीन किया गया है।


गौरतलब है कि मध्यप्रदेश में कोरोना का संक्रमण तेजी से फैल रहा है। अब तक पूरे प्रदेश में 434 मरीजों की पुष्टि हुई है, जबकि 43 मरीजों की मौज हो चुकी है।


अपने घर पर मनाये अंबेडकर जयंती

नई दिल्ली। कोरोना वायरस के संक्रमण के दौर में भारतीय जनता पार्टी के साथ बहुजन समाज पार्टी ने 14 अप्रैल को संविधान निर्माता बाबा साहब डॉ. भीमराव आंबेडकर की जयंती का कार्यक्रम अब घरों में करने की अपील की है। भाजपा के साथ बसपा समेत सभी प्रमुख दलों व संगठनों ने इस अवसर पर घरों में ही कार्यक्रम आयोजित करने की अपील की है। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्रदेव सिंह ने सभी कार्यकर्ताओं से आंबेडकर जयंती घरों पर ही मनाने को कहा है। प्रत्येक मंडल में कम से कम दो गरीब बस्तियों में राशन और घरों में बनाए गए मास्क का वितरण करने का कहा। साथ ही हिदायत दी कि लाकडाउन और सुरक्षित दूरी बनाए रखने के मानकों का पालन अनिवार्य रूप से हो।उन्होंने क्षेत्रीय व जिलाध्यक्षों को जारी निर्देश में कहा कि घरों में बाबा साहेब के चित्र पर माल्यार्पण करें और इसका सोशल मीडिया में प्रसार भी करें। हर गरीब बस्ती मेें मेरी बस्ती, कोरोना मुक्त बस्ती का संकल्प दिलाएं तथा उत्तम स्वास्थ्य के प्रति अच्छी आदतों को लेकर जागरूकता कार्यक्रम चलाएं।प्रदेश महामंत्री संगठन सुनील बंसल ने राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा के संदेश को दोहराते हुए कहा कि गरीब समाज के स्वाभिमान व तरक्की के लिए सरकार व संगठन के निर्णयों, पंचतीर्थ, कानून संबंधी सुधार व जनकल्याणकारी योजनाओं का प्रचार प्रसार सोशल मीडिया में करें। संविधान व सरकार के निर्देशों का पालन करने और कोरोना से लडऩे का संकल्प दिलाए। बाबा साहेब, सामाजिक समरसता व समानता जैसे विषयों पर अपने विचार सोशल मीडिया पर शेयर भी करें।उधर, आरक्षण बचाओ संघर्ष समिति पहले ही आंबेडकर जयंती अपने घरों पर ही मनाने की अपील कर चुकी है। राष्ट्रीय लोकदल के प्रदेश अध्यक्ष डा. मसूद अहमद ने आंबेडकर जयंती पर गरीबों व बेसहारा लोगों की मदद करने के लिए कार्यकर्ताओं से आगे आने को कहा है।बहुजन समाज पार्टी सुप्रीमो मायावती ने भी बाबा साहेब आंबेडकर जयंती को अपने घरों पर ही मनाने को कहा है। रविवार को उन्होंने ट्वीट कर अपने समर्थकों को कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए सरकारी पाबंदियों का सख्ती से पालन करने के निर्देश भी दिए। उन्होंने लिखा, मानवतावादी सोच कर्म व आजीवन कड़ा संघर्ष त्याग की प्रतिमूर्ति व देश को अनुपम समतामूलक संविधान देने वाले परमपूज्य बाबा साहेब डा. भीमराव आंबेडकर उनके अनुयाइयों व खासकर बीएसपी के लोगों के लिए हर मायने में प्रेरक, कर्म व धर्म भी है।किंतु वर्तमान में कोरोना महामारी के चलते सभी से अपील है कि वे सरकारी पांबंदियों का सख्ती से अनुपालन करते हुए, अपने रगों में बसने वाले बाबा साहेब डा. आंबेडकर की जयंती को अपने अपने घरों में ही मनाएं व उन्हें अपने श्रद्धासुमन अर्पित करें तो यही बेहतर होगा। साथ ही इनके अनुयाइयों की इस महामारी के दौरान भी हो रही दयनीय स्थिति व उत्पीडऩ के बारे में भी तथा इससे मुक्ति पाने के लिए भी इन्हें जरूर गंभीरता से चिंतन करना चाहिए। इस मौके पर मेरी इनको यह भी खास सलाह है।


मंदिर निर्माण की वेबसाइट पर चंदा

अयोध्या। राम जन्मभूमि स्थित राम मंदिर के निर्माण के नाम पर फर्जी खाता के सहारे अनुदान लेने का मामला रविवार को सामने आया। राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र के फर्जी ट्विटर अकाउंट व वेबसाइट के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया गया है।


यह मुकदमा राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महामंत्री चम्पत राय ने कराया है। बता दें, दिल्ली में बने राम मंदिर ट्रस्ट के नाम से ट्विटर अकाउंट व वेबसाइट के जरिए गूगल पे के माध्यम से चंदा मांग रहे थे। ट्रस्ट के लोगो (चिन्ह) को फर्जी वेबसाइड में यूज किया गया है। राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महामंत्री चम्पत राय के मुकदमा दर्ज कराने के बाद पुलिस जांच में लगी है। महामंत्री चम्पत राय का कहना है कि फर्जी वेबसाइट व ट्विटर अकाउंट से लोगों को सजग रहने की जरूरत है।थाना राम जन्मभूमि में मुकदमा अपराध संख्या 27/2020 , धारा 419, 420 , 463 , 468 , 465 , आईटी एक्ट के तहत दर्ज हुआ है।


मैक्स हॉस्पिटल के 150 स्टाफ क्वॉरेंटाइन

नई दिल्ली। दिल्ली के साकेत स्थित मैक्स हॉस्पिटल के 150 स्टाफ को सेल्फ क्वारनटीन में भेज दिया गया है। ये सभी लोग दो कोविड पॉजिटिव मरीजों के संपर्क में आए थे। हॉस्पिटल के स्टाफ में डॉक्टर, नर्स और वार्ड बॉय शामिल हैं जिन्हें क्वारनटीन में भेजा गया है। कोविड के जिन दो मरीजों से संक्रमण फैलने का डर बना है, वे मैक्स हॉस्पिटल में ह्रदय रोग के इलाज में भर्ती हुए थे। बाद में वे कोरोना पॉजिटिव पाए गए। इनके संपर्क में आए सभी स्टाफ की जांच शुरू कर दी गई है। सभी 150 लोगों के टेस्ट किए जाएंगे। मैक्स हॉस्पिटल की तरफ से भी बयान आ गया है जिसमें कहा गया है कि कुल 39 लोगों को हॉस्पिटल के ही क्वारनटीन सेंटर में दाखिल किया गया है।


अमेरिकाः24 घंटे में 1514 लोगों की मौत

न्यूयॉर्क। पूरी दुनिया में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। जानलेवा कोविड-19 का कहर कम होने का नाम नहीं ले रहा है। अमेरिका जैसे महाशक्तिशाली देश भी इस महामारी के आगे बेबस दिखाई दे रहा है। यह महामारी अमेरिका में सर्वाधिक तेज गति से फैल रहा है। चीन के वुहान से फैला कोरोना वायरस अब अमेरिका में तबाही मचा रहा है। अमेरिका में कोरोना वायरस के कारण संक्रमित लोगों का आंकड़ा 550,000 पहुंच गया है। बता दें कि अमेरिका में पिछले 24 घंटे में 1524 लोगों की मौत हुई।


इसी के साथ मृतकों की संख्या 21 हजार से ज्यादा हो गई है। अमेरिका में संक्रमित मरीजों की संख्या 5.5 लाख से ज्यादा है। मिली जानकारी के अनुसार राज्य में कोरोना वायरस मामलों की संख्या 5,54,000 से अधिक है। देश में कोविड-19 संबंधित मृत्यु 21,900 से अधिक है, जिसमें अकेले न्यूयॉर्क शहर में 6,898 मौतें हुई हैं। अमेरिका में मृत्यु का आंकड़ा पहले ही स्पेन और इटली से आगे निकल चुका है। दो यूरोपीय देश वायरस से बुरी तरह प्रभावित हैं। सोमवार को सुबह 5:00 बजे तक, यूएस में कोरोना वायरस के मामलों की संख्या 5,54,226 हुए हैं। जबकि मरने वालों की संख्या 21,994 हो गई है।


पीएम ने बैसाखी की शुभकामनाएं दी

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बैशाखी के अवसर पर लोगों को शुभकामनाएं देते हुए सभी के जीवन में नई ऊर्जा और नए उत्साह के संचार की कामना की है। पीएम मोदी ने सोमवार को ट्वीट किया ​है कि “बैसाखी के पावन अवसर पर देशवासियों को बहुत-बहुत शुभकामनाएं। नई उमंगों से जुड़ा यह त्योहार सभी के जीवन में नई ऊर्जा और नए उत्साह का संचार करे।”


कैबिनेट मंत्री की पत्नी को दी धमकी

कैबिनेट मंत्री नंद गोपाल गुप्ता की पत्नी मेयर अभिलाषा गुप्ता को फोन पर धमकी मिली


बृजेश केसरवानी


प्रयागराज। कैबिनेट मंत्री नंद गोपाल गुप्ता की पत्नी मेयर अभिलाषा गुप्ता को फोन पर धमकी मिली। धमकी देने का आरोप हमीरपुर निवासी हिस्ट्रीशीटर नीरज यादव उर्फ मोनू पर लगा है। नीरज को कानपुर में गिरफ्तार कर लिया गया है। मेयर की तहरीर पर कोतवाली पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर लिया है। आरोपित को पुलिस कानपुर से लेकर आ रही है। इससे पहले भी अभिलाषा गुप्ता को धमकी मिल चुकी है। एसएसपी प्रयागराज सत्यार्थ अनिरुद्ध पंकज ने बताया कैबिनेट मंत्री नंद गोपाल गुप्ता नंदी की पत्नी मेयर अभिलाषा गुप्ता ने आज धमकी के संबंध में तहरीर दी थी जिस पर कार्यवाही करते हुए धमकी देने वाले युवक के मोबाइल नंबर को ट्रेस करके हमारी पुलिस उस तक पहुंच गई है मेयर की तहरीर पर कोतवाली पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर लिया है कानपुर पुलिस आरोपी को प्रयागराज लेकर पहुंच रही है।


महापौर अभिलाषा गुप्ता नंदी को रविवार शाम कॉल करके एक बदमाश ने जान की धमकी दी। लगाकार 16 बार कॉल करके कॉलर ने कहा कि तुम्हारे पास बहुत पैसा हो गया है, इलाहाबाद आकर गोली मारूंगा। इसकी जानकारी पुलिस अफसरों को दी गई। जिसके बाद आईजी कानपुर की मदद से धमकी देने के आरोपी को गिरफ्तार किया गया। कोतवाली पुलिस मुकदमा दर्ज कर जांच कर रही है। मेयर अभिलाषा गुप्ता को रविवार शाम एक अनजान नंबर से कॉल आई। कॉलर ने कहा कि वह नीरज यादव बोल रहा है। उसने गाली देते हुए कहा कि तुम्हारे और मंत्री के पास बहुत पैसा हो गया है। वहीं आकर गोली मारेगा। कॉलर ने कहा कि अतीक अहमद और नंदी पर भी वह हमला करा चुका है। जिस पर मेयर ने तुरंत ही पुलिस अफसरों को अवगत कराया। एसएसपी ने आरोपी को ट्रेस करने के लिए क्राइम ब्रांच और सर्विलांस सेल को लगा दिया। जिस नंबर से कॉल आई थी उसकी लोकेशन कानपुर में मिली। आईजी कानपुर मोहित अग्रवाल ने जानकारी मिलते ही स्थानीय पुलिस को लगा दिया।


कुछ ही घंटों में आरोपी नीरज यादव को पुलिस ने पकड़ लिया। एसपी सिटी बृजेश श्रीवास्तव ने बताया कि नीरज यादव के खिलाफ धमकी देने और गाली गलौज करने का मुकदमा कोतवाली में दर्ज किया जा रहा है। आरोपी से पूछताछ की जा रही है। नीरज हमीरपुर का रहने वाला है। जांच के बाद ही पता चलेगा कि उसने कॉल करके धमकी क्यों धमकी दी। कुछ माह पूर्व भी मेयर अभिलाषा गुप्ता के पति मंत्री नंद गोपाल नंदी को भी कॉल करके व मैसेज से हत्या की धमकी दी गई थी। कोतवाली में मुकदमा दर्ज हुआ था। धमकाने वाला आरोपी भी हमीरपुर का रहने वाला था। उसने बांदा से कॉल किया था। हालांकि पुलिस का कहना है कि इस मामले का उस धमकी से कोई संबंध नहीं सामने आया है । फिर भी पुलिस हर एंगल पर जांच कर रही है।


केदार के कपाट खुलने की घोषणा

एस के विरमानी


उखीमठ। इस यात्रा वर्ष  द्वितीय केदार मद्महेश्वर के कपाट 11 मई को खुलेंगे। कार्यक्रम निम्नवत है।7 मई को भगवान मदमहेश्वर गर्भगृह से सभा मण्डप में ।


8 मई को पारम्परिक छाबड़ी 9 मई ऊखीमठ से रात्रि विश्राम हेतु रांसी के लिए प्रस्थान,10 मई को रात्रि विश्राम हेतु रांसी से गौंडार। 11 मई को गौंडार से मदमहेश्वर धाम प्रस्थान एवं 11 मई को ही सिंह लग्न में  आम भक्तों के दर्शन हेतु  कपाट खोल दिए जायेंगे। तुंगनाथ मंदिर के कपाट इस यात्रा वर्ष 20 मई को खुलेंगे कार्यक्रम निन्नवत है।18 मई को मक्कुमठ में पूणखी एवं रात्रि विश्राम भूतनाथ मन्दिर मक्कुमठ में 19 मई को भूतनाथ मन्दिर मक्कुमठ से रात्रि विश्राम हेतु चोपता ।


20 मई को चोपता से तुंगनाथ मंदिर एवं 20 मई  बुधवार को  कर्क लग्न अश्वनि नक्षत्र 11:30मिनट पर भगवान तुंगनाथ जी कपाट आम भक्तों के लिए खोल दिए जायेंगे।


पीएमओ निर्देश,मंत्रालयों में कामकाज

नई दिल्ली। कोरोनावायरस को फैलने से रोकने के लिए देशभर में लागू लॉकडाउन के खत्म होने से एक दिन पहले मोदी सरकार के कई मंत्रियों ने आज से दफ्तरों से काम करना शुरू किया है। लॉकडाउन का मौजूदा चरण 14 अप्रैल (मंगलवार) को खत्म होना है। हालांकि, इसके बढ़ने के संकेत दिए जा रहे हैं। सूत्रों ने शनिवार को जानकारी दी थी कि प्रधानमंत्री कार्यालय (PMO) की ओर से सभी मंत्रियों से सोमवार से आने के लिए कहा गया है। इससे पहले, ज्यादातर मंत्री घर से काम कर रहे थे। इसी क्रम, आज से दफ्तर ज्वाइन करने वाले खेल एवं युवा मामलों के मंत्री किरण रिजिजू भारतीय खेल प्राधिकरण पहुंचे। उन्होंने कहा, “केवल वरिष्ठ अधिकारी और जरूरी स्टाफ ही आज से कार्यालय आएंगे। हम कोरोनावायरस से जुड़ी सभी दिशा-निर्देशों का पालन करेंगे। देश में कोरोना वायरस संक्रमण रोकने की चुनौती के बीच केंद्र सरकार अब ‘जान भी-जहान भी’ रणनीति के तहत सरकारी कामकाज को पटरी पर लाने की क़वायद में जुट गई है। रविवार को राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बैठक की थी। इसके बाद पीएम मोदी ने लॉकडाउन को आगे बढ़ाने के संकेत दिए। हालांकि, अर्थव्यवस्था को बचाने के लिए कुछ क्षेत्रों और मामले में ढील देने पर भी विचार किया जा रहा है।


सूत्रों के अनुसार, पीएमओ की ओर से केंद्र सरकार के सभी मंत्रियों से कहा गया था कि वे सोमवार से अपने-अपने कार्यालयों में जाना शुरू कर दें। सभी मंत्री दफ्तरों से काम करेंगे। दफ्तरों में काम करते समय सोशल डिस्टेसिंग का ध्यान रखने के लिए कहा गया है। संयुक्त सचिव से ऊपर के स्तर के सभी अधिकारियों को दफ्तर जाने के लिए कहा गया है। नीचे के स्तर के  कर्मचारी रोटेशन पर आएंगे।


इस बीच, लॉकडाउन हटाने के लिए कई चरणों में काम शुरू हो गया है। देश को तीन जोन में बांटे जाने की कवायद शुरू की जा रही है। इसके तहत ग्रीन, ऑरेंज और रेड जोन बनाए जा रहे हैं। लॉकडाउन को इन्हीं जोन के हिसाब से लागू किया जाएगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ मुख्यमंत्रियों की मैराथन बैठक में लॉकडाउन को दो हफ्ते बढ़ाने पर सहमति भले बनी हो, लेकिन यह भी आम राय है कि इसे धीरे-धीरे हटाया जाए। पीएम ने ‘जान भी, जहान भी’ की बात कहकर साफ कर दिया है कि वे कोरोना से लोगों की जान बचाने के साथ ही उनकी आजीविका और अर्थव्यवस्था को भी बचाना चाह रहे हैं। अब चरणबद्ध ढंग से एक-एक कर कदम बढ़ाया जाएगा।


प्रशासन घर-घर पहुंचाएगा भोजन

रायपुर। जनप्रतिनिधि और एनजीओ, सामाजिक एवं धार्मिक संस्थाएं राशन और खाना नहीं बाटेंगे। अब ज़िला प्रशासन ही घर-घर खाना पहुंचायेगा। यह आदेश नगरीय प्रशासन मंत्रालय ने जारी किया है। जारी आदेश में कहा गया है कि संदर्भित पत्रों के माध्यम से महापौर, अध्यक्ष एवं पार्षद निधि से राशन सामग्री क्रय करने COVID-19 के लॉकडाउन के दौरान अनुमति दी गई है। इसके अतिरिक्त निकायों में विभिन्न समाजसेवी संस्थाओं एवं दानदाताओं द्वारा भी राशन सामग्री जरूरतमंदों को प्रदाय की जा रही है। निकायों में अनेक जनप्रतिनिधियों, एजेन्सियों, संस्थाओं एवं व्यक्तियों द्वारा आवश्यक सामग्री वितरण किए जाने के कारण, जन स्वास्थ्य की सुरक्षा के लिए अति आवश्यक ‘फिजिकल डिस्टन्सिंग’ के सिद्धांत का पालन नहीं किए जाने की संभावना बनी रहती है। इसके साथ ही लॉकडाउन का पूर्ण पालन भी सुनिश्चित किए जाने में कठिनाई आ रही है।


नागरिकों की सुरक्षा के दृष्टिकोण से यह निर्देशित किया जाता है कि उपरोक्तानुसार क्रय/प्राप्त सामग्री का वितरण केवल जिला प्रशासन के माध्यम से किया जाए। इस कार्य के लिए इच्छुक संस्थाओं एवं दानदाताओं से भी यह निवेदन किया जाए कि, वह ऐसी समस्त सामग्रियां जिला प्रशासन को उपलब्ध कराएं। नगरीय निकाय, ऐसे समस्त जनप्रतिनिधियों एवं दानदाताओं के सम्मान स्वरूप, सोशल मीडिया में उनका धन्यवाद ज्ञापित कर सकते हैं, जिससे अन्य नागरिकों को भी प्रेरणा मिल सके।


सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

सावधानी बरतें, सतर्क रहें।


अभियान, सैकड़ों अरब डॉलर की परियोजनाएं: मंजूर

वाशिंगटन डीसी। दुनिया के सबसे संपन्न सात देशों (जी 7) के शिखर सम्मेलन में शनिवार को चीन मुख्य मुद्दा रहा। चीन की विस्तारवादी नीतियों के खिला...