विविध/ खेल लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
विविध/ खेल लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

सोमवार, 29 नवंबर 2021

भारत-न्यूजीलैंड के बीच टेस्ट, 5वें दिन खेल जारी

भारत-न्यूजीलैंड के बीच टेस्ट, 5वें दिन खेल जारी    

नई दिल्ली/ वेलिंग्टन। भारत और न्यूजीलैंड के बीच कानपुर में पहले टेस्ट के 5वें दिन का खेल जारी है। न्यूजीलैंड को कानपुर टेस्ट जीतने के लिए टीम इंडिया ने 284 रनों का लक्ष्य दिया है। टारगेट का पीछा करते हुए एनजे का स्कोर 7 विकेट के नुकसान पर 142 रन है। रचिन रवींद्र और जेमीसन क्रीज पर हैं।

76वें ओवर की आखिरी गेंद पर टॉम ब्लंडल के खिलाफ एलबीडब्ल्यू की अपील की गई। लेकिन अंपायर ने आउट नहीं दिया। कप्तान रहाणे और अश्विन ने लंबी बातचीत के बाद रिव्यू लिया और रीप्ले में नजर आया कि गेंद लेग स्टंप मिस कर रही थी। ब्लंडल नॉटआउट रहे। मगर अश्विन ने इसके बाद अपने अगले ही ओवर में ब्लंडल (2) को बोल्ड कर टीम इंडिया को 7वीं सफलता दिलाई।

टी-ब्रेक के बाद पहले ही ओवर में अक्षर पटेल ने हेनरी निकोल्स (1) को एलबीडब्ल्यू कर कीवी टीम को 5वां झटका पहुंचाया। हालांकि निकोल्स ने डीआरएस लिया। लेकिन रीप्ले में नजर आया कि गेंद मिडिल-ऑफ स्टंप को हिट कर रही थी और हेनरी आउट हुए। टीम अभी इस झटके से उबर भी नहीं थी कि जडेजा ने केन विलियम्सन (24) को एलबीडब्ल्यू आउट कर एनजे की कमर तोड़कर रख दी।


आयुर्वेद: भूख बढ़ाने के घरेलू नुस्खे, जानिए

कई बार हम तनाव में होते हैं और चिंता या अवसाद की वजह से भूख नहीं लगती। यह एक सामान्‍य सी समस्‍या है। लेकिन अगर आपको कई दिनों से भूख नहीं लग रही और आप कमजोरी महसूस करने लगे हैं तो भूख ना लगने की ये समस्‍या आपकी सेहत पर भारी पड़ सकती है। मेड इंडिया के मुताबिक, ऐसे में अगर खाना देखते ही आपको नहीं खाने का मन करता है तो आप कुछ घरेलू उपायों की मदद लेकर अपनी इस समस्‍या को ठीक कर सकते हैं। आयुर्वेद में कई ऐसे उपाय हैं। जिनकी मदद से पेट की समस्‍या और भूख को बढाने का इलाज बरसों से किया जा रहा है। खास बात ये है कि ये पूरी तरह नेचुरल हैं और कैमिकल फ्री हैं। ऐसे में यहां हम आपको कुछ घरेलू और आयुर्वेदिक उपाय बता रहे हैं जिन्‍हें आजमाकर आप अपनी भूख को बढा सकते हैं।

भूख बढाने के लिए घरेलू नुस्‍खे।

1.नींबू पानी पिएं: नींबू पानी सेहत के लिए काफी फायदेमंद होता है। अगर आप को भूख नहीं लग रही है तो आप सुबह खाली पेट नींबू पानी का सेवन करें। नींबू पानी पीने से भूख बढती है और डीहाइड्रेशन भी नहीं होता है।

2.अजवायन खाएं: अगर अपच या भूख न लगने की समस्या है तो आप अजवायन का सेवन कर सकते हैं।भूख ना लगने पर दिन में एक या दो बार इसका सेवन जरूर करें।

3.त्रिफला चूर्ण: आप रात को सोने से पहले दूध गर्म करें और इसमें एक चम्‍मच त्रिफला चूर्ण मिलाकर गर्मागर्म पिएं। धीरे-धीरे आपकी भूख वापस आ जाएगी।

4.काली मिर्च का उपयोग: एक चम्मच गुड़ पाउडर और आधा चम्मच पिसी हुई काली मिर्च को एक साथ मिलाएं और इसका सेवन करें। कुछ दिनों तक नियमित रूप से इसका सेवन करने से आपकी भूख वापस आ जाएगी।

5.ग्रीन टी का उपयोग: ग्रीन टी पीने से भूख तो लगती ही है। इम्‍यूनिटी भी स्‍ट्रॉन्‍ग होता है। ऐसे में आप चाय की बजाय ग्रीन टी का सेवन कर सकते हैं।

6.अदरक का उपयोग: अगर आप दस दिनों तक रोज अदरक का रस निकालकर इसमें चुटकीभर सेंधा नमक मिलाकर खाने से एक घंटा पहले खाएं तो आपकी भूख में सुधार होगा।

रविवार, 28 नवंबर 2021

'सर्दी' से बचने के लिए अपनाएं घरेलू उपाय

'सर्दी' से बचने के लिए अपनाएं घरेलू उपाय
मो. रियाज         सर्दियों का मौसम शुरू होते ही ठंड लगने के मामले भी बढ़ने लगे हैं। शरीर में दर्द, बुखार, ठंड लगना और नाक बंद होना बदलते मौसम के रोग हैं। जिससे अधिकतर लोग परेशान हैं। बहुत सारे घरेलू उपचार हैं। जो ठंड लगने के लक्षणों को कम कर सकते हैं। यदि आप कुछ हफ्तों के बाद भी बीमार महसूस करते हैं, तो अपने डॉक्टर से संपर्क करें। 

चिकन सूप: चिकन सूप एक इलाज नहीं हो सकता है, लेकिन जब आप बीमार हों तो यह एक अच्छा विकल्प है। शोध से पता चलता है कि एक कटोरी चिकन सूप शरीर में न्यूट्रोफिल की गति को धीमा कर सकता है। न्यूट्रोफिल सफेद रक्त कोशिका का एक सामान्य प्रकार है। वे आपके शरीर को संक्रमण से बचाने में मदद करते हैं।  

अदरक: उबलते पानी में कच्ची अदरक की जड़ को गर्म करके पीने से खांसी या गले में खराश को शांत करने में मदद कर सकते हैं। शोध बताते हैं कि यह मतली की भावनाओं को भी दूर कर सकता है जो अक्सर इन्फ्लूएंजा के साथ होती हैं। शहद में विभिन्न प्रकार के जीवाणुरोधी और रोगाणुरोधी गुण होते हैं। चाय में नींबू के साथ शहद मिलाकर पीने से गले के दर्द में आराम मिलता है।  

लहसुन: लहसुन में यौगिक एलिसिन होता है, जिसमें रोगाणुरोधी गुण हो सकते हैं। अपने आहार में लहसुन के पूरक को शामिल करने से सर्दी के लक्षणों की गंभीरता कम हो सकती है। कुछ शोधों के अनुसार, यह आपको पहली बार में बीमार होने से बचाने में भी मदद कर सकता है।

विटामिन सी: विटामिन सी आपके शरीर में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है और इसके कई स्वास्थ्य लाभ हैं। नींबू, संतरे, अंगूर, पत्तेदार साग और अन्य फलों और सब्जियों के साथ, नींबू विटामिन सी का एक अच्छा स्रोत है। शहद के साथ गर्म चाय में ताजा नींबू का रस मिलाने से आपके बीमार होने पर कफ कम हो सकता है। गर्म या ठंडा नींबू पानी पीने से भी मदद मिल सकती है।

नमक का पानी: नमक के पानी से गरारे करने से ऊपरी श्वसन संक्रमण को रोकने में मदद मिल सकती है। यह ठंड के लक्षणों की गंभीरता को भी कम कर सकता है। उदाहरण के लिए, यह गले में खराश और नाक की भीड़ को कम कर सकता है। नमक के पानी से गरारे करने से बलगम कम होता है और ढीला होता है, जिसमें बैक्टीरिया और एलर्जी होती है 

गर्म स्नान करें: गर्म पानी की फुहार भी बलगम को पतला करके जमाव से अस्थायी राहत प्रदान कर सकती है। अपने शॉवर को गर्म - लेकिन फिर भी आरामदायक - तापमान में बदल दें। अपने बाथरूम का दरवाजा बंद करना सुनिश्चित करें ताकि भाप इकट्ठा हो सके। एक बार भाप इकट्ठा हो जाने के बाद, अपने साइनस को साफ करने के लिए कुछ गहरी सांसें लें। 

बेडरूम में ह्यूमिडिफायर का इस्तेमाल करें: ह्यूमिडिफ़ायर हवा में नमी जोड़ते हैं। हालांकि उन्होंने ठंड के लक्षणों के इलाज में लगातार लाभ नहीं दिखाया है, लेकिन वे सांस लेने में आसान महसूस कर सकते हैं। शुष्क हवा गले और नाक के मार्ग में जलन पैदा कर सकती है। यदि आपके शयनकक्ष में हवा बहुत शुष्क है, तो एक ह्यूमिडिफायर मदद कर सकता है।  

गर्म चाय पिएं: चाय में एंटीवायरल, एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं। हालांकि इस बात का कोई सबूत नहीं है कि चाय नाक की जकड़न को दूर करती है, शोध से पता चला है कि गर्म पेय लोगों को उनके ठंड के लक्षणों के बारे में कैसा महसूस होता है, इसमें सुधार कर सकते हैं।अपनी चाय में शहद या नींबू मिलाने से अतिरिक्त राहत मिल सकती है। शहद खांसी को शांत कर सकता है, जबकि नींबू संक्रमण से लड़ने में मदद कर सकता है। शाम को, कैफीन मुक्त चाय का विकल्प चुनें।

2 टीमों के बीच तीन टी-20 की सीरीज खेली गई

नई दिल्ली/ इस्लामाबाद। पाकिस्तान टीम इन दिनों बांग्लादेश दौरे पर है। यहां सबसे पहले दोनों टीम के बीच तीन टी-20 की सीरीज खेली गई। जिसमें पाकिस्तान ने क्लीन स्वीप किया। अब पाकिस्तान और बांग्लादेश के बीच सीरीज का पहला टेस्ट चटगांव में खेला जा रहा है। इस पूरी सीरीज में पाकिस्तान के लिए एक बुरी खबर यह है कि उनके कप्तान बाबर आजम इस समय रन बनाने के लिए जूझ रहे हैं।

हाल ही में खत्म हुए टी-20 वर्ल्ड कप के बाद दोनों टीम की यह पहली द्विपक्षीय सीरीज है। वर्ल्ड कप में शानदार खेल दिखाने वाले बाबर आजम इस पूरे दौरे पर खराब फॉर्म से जूझ रहे हैं। टी-20 सीरीज के तीनों मैच में बाबर ने सिर्फ 27 रन ही बनाए। तीनों मैच में उन्होंने 7, 1 और 19 रन बनाए।टी-20 सीरीज के बाद माना जा रहा था कि टेस्ट में बाबर आजम अपनी पुरानी फॉर्म वापस पा लेंगे। लेकिन ऐसा मुमकिन होता नहीं दिखा ? चटगांव टेस्ट की पहली पारी में बाबर आजम ने 46 बॉल जरूर खेलीं, लेकिन रन सिर्फ 10 ही बनाए। वे अपनी पारी को बनाने की कोशिश ही कर रहे थे कि मेहदी हसन मिराज की सनसनाती बॉल सीधे उनके स्टंप्स उड़ा गई। बाबर क्लीन बोल्ड हो गए।


शनिवार, 27 नवंबर 2021

ठंड में अमरूद खाना बेहद फायदेमंद, जानिए

ठंड में अमरूद खाना बेहद फायदेमंद, जानिए
मो. रियाज        
अमरूद स्वादिष्ट ही नहीं बल्कि फायदेमंद भी है। मगर क्या आप जानती हैं कि यह प्रजनन क्षमता को भी बढ़ा सकता है ? चलिये इनके बारे में और जानें।
आमरूद को फलों में बहुत खास जगह रखता है। यह स्वादिष्ट मीठा और खट्टा फल, प्रचुर मात्रा में पोषक तत्वों से भरपूर हैं। इम्युनिटी बढ़ाने से लेकर डिस्ट्रेसिंग, डायबिटीज से लड़ने से लेकर वजन घटाने को बढ़ावा देने तक, अमरूद खाने के ढेरों फायदे हैं। मगर चलिए हम आपको एक ऐसी बात बताते हैं जिसके बारे में आप नहीं जानते होंगे। यह सुपरफूड आपकी प्रजनन क्षमता को बेहतर बनाने में भी अद्भुत काम कर सकता है।
क्लाउडनाइन ग्रुप ऑफ हॉस्पिटल्स, पंचकुला, की न्यूट्रिशनिस्ट, हरप्रीत कौर हेल्थशॉट्स को बताती हैं, “अमरूद प्रजनन क्षमता को बढ़ाने में मदद करता है। अमरूद का सेवन महिलाओं में ओव्यूलेशन और प्रजनन क्षमता को बढ़ाने में मदद कर सकता है और आपके गर्भवती होने की संभावना को बढ़ा सकता है। अमरूद के फल को अक्सर नाश्ते के रूप में खाया जाता है और पत्तियों को आमतौर पर हर्बल चाय में इस्तेमाल किया जाता है, जिसका सेवन सप्ताह में एक या दो बार किया जा सकता है।
यह प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ाने में मदद करता है। यह प्रकृति में विटामिन-सी के सबसे समृद्ध स्रोतों में से एक है।

स्टेडियम: दो मैचों की सीरीज, पहला टेस्ट खेला गया 
नई दिल्ली/ वेलिंग्टन। भारत और न्यूजीलैंड के बीच दो मैचों की टेस्ट सीरीज का पहला टेस्ट कानपुर के ग्रीन पार्क स्टेडियम में खेला गया। तीसरे दिन शनिवार को ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन मैदान पर कई बार अंपायर से बहस करते दिखे। खराब अंपायरिंग से गुस्साए अश्विन अंपायरों से उलझ बैठे। मैच के तीसरे दिन अंपायर नितिन मेनन और अश्विन के बीच काफी बातचीत हुई। 
दरअसल, इसकी वजह उनका गेंदबाजी फॉलो थ्रू रहा। अश्विन जब गेंदबाजी खत्म करने के बाद जब उनके सामने से निकल कहे थे तो नितिन के परेशानी हो रही थी। अश्विन ने कीवी बल्लेबाज टॉम लैथम को राउंड दा विकेट गेंदबाजी कर रहे थे। इस दौरान अश्विन फॉलो थ्रू में सीधा न जाते हुए अंपायर के सामने से क्रॉस कर रहे थे। इससे मैदानी अंपायर को शिकायत हुई और नितिन मेनन ने इसे लेकर अश्विन से बातचीत करने लगे।

शुक्रवार, 26 नवंबर 2021

भारत के कप्तान ने बल्लेबाजी का फैसला किया

भारत के कप्तान ने बल्लेबाजी का फैसला किया

नई दिल्ली/ वेलिंग्टन। भारत और न्यूजीलैंड के बीच दो मैचों की सीरीज का पहला टेस्ट में कानपुर के ग्रीन पार्क स्टेडियम में खेला जा रहा है। मैच के पहले दिन भारत के कप्तान अजिंक्य रहाणे ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला किया और दिन का खेल समाप्त होने तक 4 विकेट के नुकसान पर 258 रन का स्कोर खड़ा किया। खराब रोशनी के कारण दिन में केवल 84 ओवर का खेल हो सका। अपना टेस्ट खेल रहे श्रेयस अय्यर 75 और रवींद्र जडेजा 50 रन बनाकर नाबाद हैं। दोनों के बीच पांचवें विकेट के लिए 208 गेंद में 113 की साझेदारी हो चुकी है।

कानपुर टेस्ट के दूसरे दिन 4 विकेट पर 258 रन से आगे खेलने उतरी टीम इंडिया पहले सत्र में लंच तक 8 विकेट खोकर 339 रन बना सकी। श्रेयस अय्यर डेब्यू टेस्ट में शतक जड़ने में सफल रहे। उन्होंने 105 रन बनाए। टिम साउदी ने शानदार गेंदबाजी करते हुए भारतीय बल्लेबाजों को नई गेंद के साथ परेशान किया और चारों विकेट अपने नाम किए। उन्होंने दूसरे दिन 11 ओवर में 26 रन देकर 4 विकेट झटके और 13वीं बार टेस्ट क्रिकेट में एक पारी में 5 विकेट हासिल किए।


हरी सब्जियों का सेवन, जानिएं फायदे
मो. रियाज          सब्जियों के सेवन से अनेकों लाभ मिलते हैं। इसके जूस के सेवन से अनेकों बीमारियां दूर होती जाती हैं। हम में से बहुत लोगों को हरी सब्जियों का सेवन करना अच्छा नहीं लगता है। इसलिए इसके जूस को भी अपनी डाइट में शामिल कर सकते हैं। आपको बताते चलीं कि सब्जियों के जूस का सेवन यदि आप तरोज करते हैं तो इससे अनेकों बीमारियां दूर होती जाती हैं। वेजिटेबल जूस में प्रचुर मात्रा में कैल्शियम, मिनरल, फाइबर व विटामिन भरपूर मात्रा में पाया जाता है। इसके रोजाना सेवन से शरीर में से ढेरों बीमारियां दूर होती जाती हैं। इसलिए जानते हैं इन वेजटेबल्स जूस के बारे में जिनके सेवन से शरीर को ढेरों लाभ मिल सकते हैं।
करेले का जूस:  करेले का जूस डायबिटीज को ठीक करता है और साथ में बॉडी में जमी चर्बी को भी बाहर निकालता है। यदि आपको यह जूस पीने में कडुआ लग रहा है तो आप इसमें नींबू का रस मिला सकते हैं। शुगर के पेशेंट्स को करेले का जूस बहुत ही ज्यादा फायदा पहुंचाने का काम करता है। इसके रोजाना सेवन से शुगर जैसी बीमारी कंट्रोल में रहती है। वहीं वजन की कम करने में भी इसका बहुत बड़ा रोल होता है। आप करेले के जूस का यदि खाली पेट सेवन करते हैं तो इससे शरीर को ढेरों फायदे मिलते हैं। इसलिए करेले के जूस का सेवन आपको रोजाना अपनी डाइट में शामिल करना चाहिए।
पालक का जूस: पालक के जूस के सेवन से एक नहीं अनेकों लाभ मिलते हैं। पालक के जूस में प्रोटीन, कैल्शियम, मिनरल्स आदि चीजें भरपूर मात्रा में पाई जाती हैं। वहीं यदि आप पालक को अपनी रोजाना कि डाइट में शामिल करते हैं तो इससे ग्रोथ भी बहुत अच्छी होती जाती है। इसलिए पालक को अपने रोजाना के डाइट में जरूर शामिल करें ताकि इससे सेहत को अनेकों लाभ मिलें और आप तंदुरस्त भी रहे। पालक के जूस को यदि आप अपने रोजाना की डाइट में शामिल करते हैं तो इससे न सिर्फ आपकी त्वचा अच्छी हो जाएगी बल्कि साथ ही साथ अनेकों बीमारियां भी दूर रहेंगी।
गाजर और चुकंदर का जूस:  गाजर और चुकंदर ये दोनों ही सेहत के लिए बहुत ही ज्यादा लाभदायक होते हैं। यदि इन दोनों चीजों का साथ में सेवन करते हैं तो इससे सेहत को ढेरों लाभ मिलते हैं। चुकंदर की बात करें तो इसमें आयरन की भरपूर मात्रा पाई जाती है वहीं चुकंदर सेहत के लिए बहुत लाभदायक होता है। गाजर की बात करें तो ये विटामिन सी का एक वहुत अच्छा सोर्स होता है साथ ही साथ इसमें की भी भरपूर मात्रा पाई जाती है। इन दोनों चीजों को मिक्स करके सेवन करने से सेहत बहुत स्वस्थ बना रहता है। वहीं इसमें मौजूद विटामिन और अनेकों पोषक तत्वों से किडनी के साथ-साथ स्किन भी स्वस्थ रहती है। टमाटर का जूस: टमाटर का इस्तेमाल तो आप खाने के स्वाद को बढ़ाने के लिए करते ही होंगें। वहीं टमाटर सिर्फ खाने को स्वाद को नहीं बेहतर बनाता है। बल्कि अनेकों बीमारियां भी शरीर से दूर रखने का काम करता है। टमाटर के जूस के साथ आप खीरे का जूस, गाजर का जूस आदि चीजें मिलाकर भी डाइट में शामिल कर सकते हैं। टमाटर के जूस के रोजाना सेवन से इम्युनिटी मजबूत होती जाती है वहीं ढेरों बीमारियां भी शरीर से दूर रहती हैं। इसके जूस के रोजाना सेवन से हार्ट प्रॉब्लम जैसे समस्याएं होने का खतरा भी कम हो जाता है।

गुरुवार, 25 नवंबर 2021

खेल: दो मैचों की सीरीज, टेस्ट से आराम दिया

खेल: दो मैचों की सीरीज, टेस्ट से आराम दिया

नई दिल्ली/ वेलिंग्टन। टी-20 वर्ल्ड कप के बाद विराट कोहली को न्यूजीलैंड के खिलाफ तीन मैचों की टी-20 इंटरनैशनल सीरीज और दो मैचों की सीरीज के पहले टेस्ट से आराम दिया गया है। कानपुर के ग्रीन पार्क स्टेडियम में भारत और न्यूजीलैंड के बीच पहले टेस्ट में कमान अजिंक्य रहाणे रहाणे के हाथों में है। विराट को पहले टेस्ट से आराम दिया गया था। लेकिन वह फिलहाल नेट पर जमकर पसीना बहा रहे हैं। 

मुंबई में संजय बांगड़ के साथ मिलकर विराट जमकर बैटिंग प्रैक्टिस कर रहे हैं। विराट कोहली को पिछला इंटरनैशनल शतक लगाए हुए दो साल से ज्यादा का समय हो चुका है। हाल के दिनों में वह अपनी फॉर्म को लेकर आलोचकों के निशाने पर रहे हैं। विराट ने अपने वर्कलोड मैनेजमेंट के चलते भारतीय टी-20 टीम की कप्तानी छोड़ दी है। इसके अलावा उन्होंने इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर (आरसीबी) की कप्तानी भी छोड़ दी है। विराट फिलहाल टीम इंडिया के वनडे और टेस्ट कप्तान के पद पर बने हुए हैं, लेकिन टी-20 वर्ल्ड कप से पहले उन्होंने घोषणा कर दी थी कि वह इस टूर्नामेंट के बाद टी-20 टीम की कप्तानी छोड़ देंगे।

विराट टी-20 इंटरनैशनल सीरीज के दौरान तो क्रिकेट के मैदान से दूर नजर आए। लेकिन टेस्ट सीरीज शुरू होते ही वह मैदान पर लौट चुके हैं। विराट अपनी कमियों को दूर करके एक बार फिर दो साल पहले वाली बैटिंग फॉर्म में लौटना चाहेंगे। विराट प्रैक्टिस के दौरान मुंबई में अपने कुछ फैन्स से भी मिले। सोशल मीडिया पर उनकी काफी तस्वीरें शेयर की जा रही हैं।


स्वास्थ्य: शहद खाने का नुकसान, जानिए

बहुत से लोग सोचते हैं कि स्वस्थ रहने के लिए क्या खाना चाहिए ? क्योंकि उसे भी फिट रहना होता है। अध्ययनों से पता चलता है कि खाने के विकार आज सबसे आम बीमारियों में से एक हैं। ऐसे में स्वस्थ रहने के लिए विशेषज्ञ थोड़ा सा शहद लेने की सलाह देते हैं। शहद में प्राकृतिक मीठा स्वाद होता है। इसके कई स्वास्थ्य लाभ भी होते हैं। इसलिए कई लोग आंखें बंद करके खाना खाते हैं।

हालांकि शहद अच्छा है। आयुर्वेद चेतावनी देता है कि इसे कुछ खाद्य पदार्थों के साथ मिलाकर खाना गलत हो सकता है। ऐसे में आपको पता चल जाएगा कि आपको किस भोजन के साथ शहद नहीं खाना चाहिए। आयुर्वेदिक विशेषज्ञ शहद को गर्म दूध या गुनगुने पानी, गर्म नींबू पानी और गर्म चाय के साथ नहीं लेने की सलाह देते हैं। यह भी सलाह दी जाती है कि इससे बीमारियां हो सकती हैं। इसी तरह कहा जाता है कि शहद को हमेशा गर्म करके या गर्म सामग्री के साथ मिलाना गलत है। नहीं तो वह पदार्थ आपके लिए विषैला हो जाएगा। यह संदेहास्पद है कि दुकानों में खरीदा गया शहद असली है या नहीं। इसलिए बेहतर है कि आप सीधे पहाड़ों से शहद खरीद कर विक्रेताओं के साथ खरीद कर इस्तेमाल करें।

दूसरों का कहना है कि शहद इतना गर्म होता है कि उसे बोतलों में नहीं डाला जा सकता। इसलिए बेहतर है कि स्टोर से खरीदे गए शहद से दूर ही रहें। इसलिए यह पता लगाने के कुछ तरीके हैं कि क्या यह असली शहद नहीं है ? परीक्षण खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण द्वारा प्रकाशित किया जाता है। इसमें एक गिलास साफ पानी लें। 2 बूंद शहद मिलाएं। यदि शहद पानी में भी चला जाए तो वह शुद्ध शुद्ध शहद है। यदि शहद को डालने के तुरंत बाद पानी में मिला दिया जाए और पानी का रंग बदल जाए तो वह मिलावटी शहद है। इसलिए शहद टेस्टिंग के बाद ही खरीदें।

बुधवार, 24 नवंबर 2021

खेल: टूर्नामेंट के नॉकआउट चरण में जगह बनाईं

खेल: टूर्नामेंट के नॉकआउट चरण में जगह बनाईं

पेरिस। क्रिस्टियानो रोनाल्डो ने अपनी ख्याति के अनुरूप प्रदर्शन करके शानदार गोल दागा जिससे मैनचेस्टर यूनाईटेड ने मंगलवार को विल्लारीयाल को 2-0 से हराकर चैंपियन्स लीग फुटबॉल टूर्नामेंट के नॉकआउट चरण में जगह बनायी। बार्सिलोना को हालांकि, अंतिम 16 में जगह बनाने के लिये अभी इंतजार करना होगा।

उसने बेनफिका के खिलाफ मैच गोलरहित ड्रा खेला। पिछले सप्ताह ओले गनार सोलस्कायेर को बर्खास्त करने के बाद यूनाईटेड पहली बार अंतरिम कोच माइकल कैरिक की अगुवाई में खेल रहा था। रोनाल्डो के शानदार प्रयास से वह जीत से शुरुआत करने में सफल रहे। रोनाल्डो ने 78वें मिनट में गोल करके यूनाईटेड को बढ़त दिलायी जबकि जादोन सांचो ने 90वें मिनट में दूसरा गोल दागा। इससे यूनाईटेड ने ग्रुप एफ में अपना शीर्ष स्थान सुनिश्चित किया।


फिट और हेल्दी रखने में मददगार है जड़ी बूटी
मो. रियाज         हमारे आस-पास कई ऐसी चीजें हैं। जो हमें हर रोज फिट और हेल्दी रखने में मददगार हैं। बशर्ते हमें उनके बारे में पता हो। सर्दियों में शरीर को कई तरह के संक्रमणों से लड़ने की जरूरत होती है। ऐसे में हमारी डाइट सबसे अहम रोल प्ले करती है। जड़ी-बूटियों और मसालों का उपयोग सदियों से कई स्वास्थ्य समस्याओं के इलाज के लिए किया जाता रहा है। इन जड़ी बूटियों को पानी में भिगोने से उनकी उपचार शक्ति बढ़ती है। जड़ी-बूटियों का पानी तैयार करने के लिए आपको बस कुछ जड़ी-बूटियों को एक गिलास पानी में भिगोना है, इसे रात भर छोड़ देना है और सुबह इसे पीना है।

1. मैथी का पानी: मेथी के दानों का इस्तेमाल भारतीय खाना बनाने में किया जाता है और यह आमतौर पर हर घर में पाया जाता है। स्वाद में थोड़ा कड़वा, यह मसाला औषधीय गुणों का भंडार है और कई स्वास्थ्य समस्याओं को दूर कर सकता है। मेथी के बीज एंटीऑक्सिडेंट और एंटी इंफ्लेमेटरी गुणों से भरे हुए हैं। मेथी का पानी पीने से आपको वजन कम करने, इम्यूनिटी को बढ़ावा देने, ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल करने और बेहतर पाचन को बढ़ावा देने में मदद मिल सकते हैं।

2. तुलसी का पानी: तुलसी अपने औषधीय गुणों के लिए जानी जाती है। तुलसी के एंटीबायोटिक, एंटी-फंगल और जीवाणुरोधी गुण बुखार और सर्दी को रोकने में मदद कर सकते हैं। आपकी त्वचा और बालों के लिए भी अच्छे होते हैं। बहुत से लोग सिरदर्द, दांत दर्द और गले की खराश से छुटकारा पाने के लिए भी तुलसी के पत्तों को चबाते है। दिन में तीन बार तुलसी का पानी पीने से भी एसिडिटी को दूर रखने में मदद मिल सकती है। इसके अलावा, तुलसी के एंटी इंफ्लेमेटरी गुण सूजन को कम करने और हृदय रोग के विकास के जोखिम को कम करने में मदद करते हैं।

3. दालचीनी पानी: एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर दालचीनी हमारे शरीर को फ्री रेडिकल्स से होने वाले ऑक्सीडेटिव डैमेज से बचाती है। इसके एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण शरीर को संक्रमण से बचाने में मदद करते हैं। दालचीनी का पानी पाचन तंत्र में कार्बोहाइड्रेट के टूटने को कम करके ब्लड शुगर लेवल को कम करने में भी मदद करता है।दालचीनी के अधिकतम लाभ प्राप्त करने के लिए उन्हें कुछ समय के लिए पानी में भिगोना सबसे अच्छा है।

4. धनिया के बीज का पानी: धनिया का उपयोग भोजन में एक अलग स्वाद जोड़ने के लिए किया जाता है। धनिया के बीज एंटीऑक्सिडेंट से भरे होते हैं, जो रक्त कोलेस्ट्रॉल लेवल को कम करके और ब्लड प्रेशर को कम करके हृदय स्वास्थ्य को बढ़ावा देने में मदद करते हैं।धनिया के बीज का पानी डायबिटीज को नियंत्रित करने और गठिया के लक्षणों को दूर करने में भी मदद करता है। इसके अलावा धनिया के बीज के पानी में फैटी एसिड और आवश्यक तेल होते हैं। जो भोजन को आसानी से पचाने में मदद करते हैं।

मंगलवार, 23 नवंबर 2021

मैच: टेस्ट से पहले भारतीय टीम को झटका लगा

मैच: टेस्ट से पहले भारतीय टीम को झटका लगा       

वेलिंग्टन। न्यूजीलैंड के खिलाफ पहले टेस्ट से पहले भारतीय टीम को बड़ा झटका लगा है। टीम इंडिया के ओपनर केएल राहुल चोट के चलते पहले टेस्ट से बाहर हो गए है। केएल राहुल की जगह सूर्यकुमार यादव को टीम में शामिल किया गया है।

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक, बीसीसीआई अधिकारी का कहना है कि केएल राहुल कानपुर टेस्ट में नहीं खेलेंगे। मंगलवार को कानपुर के ग्रीन पार्क स्टेडियम में हुए प्रैक्टिस सेशन में भी केएल राहुल ने हिस्सा नहीं लिया था। हालांकि, केएल राहुल को कब और कैसे चोट लगी है, इसकी जानकारी नहीं मिली है।

सर्दियों में ठंड से बचने के उपाय, जानिए

सर्दी का मौसम कुछ लोगों को बेहद परेशान करता है। ऐसे लोग सर्दी से बचने के लिए बेहद गर्म कपड़े पहनते है, ठंडे पानी से दूर रहते हैं। फिर भी उन्हें सर्दी बेहद लगती है। बॉडी तो गर्म कपड़ों से गर्म हो जाती है। लेकिन हाथ और पैरों में ज्यादा सर्दी लगती है। हाथ- पैरों को गर्म करने के लिए लोग आग पर हाथ गर्म करते हैं और पैरों में मोज़ें पहनते हैं। तब जाकर उन्हें थोड़ी सी राहत मिलती है। लेकिन आप जानते हैं कि सर्दी में हाथ-पैर क्यों ठंडे रहते हैं?

हाथ और पैरों में ज्यादा ठंड रक्त प्रवाह की वजह से लगती है। रक्त का प्रवाह हाथ और पैर तक जाते-जाते कम होने लगता है जिससे सर्दी में कुछ लोगों को हाथ और पैरों में ठंड ज्यादा लगने लगती है। ज्यादा ठंड होने पर हाथ और पैर की रक्त वाहिकाएं सिकुड़ने लगती है जिसकी वजह से कुछ लोगों के हाथ और पैर सर्दी में ठंडे पड़ने लगते हैं। सर्दी में हाथ और पैरों का ठंडा पड़ना एक सामान्य प्रक्रिया है जिससे घबराने की जरूरत नहीं है। आप सर्दी में इस परेशानी से बचने के लिए कुछ खास उपायों को अपना सकते हैं।

हाथ-पैरों में गर्म कपड़ें पहने: सर्दी में आपके हाथ-पैर अक्सर ठंडे रहते हैं तो हाथ-पैर में गर्म कपड़े जरूर पहनें। जब आप घर से बाहर निकल रहे हैं तो हाथों में ग्लब्स और पैरों में वार्म सॉक्स जरूर पहनें आपके हाथ-पैर ठंडे नहीं रहेंगे। 

तेल से मालिश करें: हाथ और पैर ठंडे पड़ते हैं तो गुनगुने सरसों के तेल से मालिश करें। तेल से मसाज करने से उंगलियों और पंजों में ब्लड सर्कुलेशन बढ़ता है जिससे ऑक्सीजन की सप्लाई बेहतर होती है। पैरों में अकड़न और खुजली भी नहीं होती और हाथ-पैरों में गर्महाट बनी रहती है। 

सोमवार, 22 नवंबर 2021

4 विकेट पर 126 रन का मजबूत स्कोर बनाया

4 विकेट पर 126 रन का मजबूत स्कोर बनाया        

आबुधाबी। इंग्लैंड के युवा बल्लेबाज विल जैक्स की तूफानी अर्धशतकीय पारी की मदद से बांग्ला टाइगर्स ने नार्दर्न वारियर्स को पांच विकेट से हराकर अबुधाबी टी-10 क्रिकेट टूर्नामेंट में अपनी पहली जीत दर्ज की। कप्तान रोवमैन पावेल की 63 रन की पारी से वारियर्स ने चार विकेट पर 126 रन का मजबूत स्कोर बनाया।

पावेल के अलावा मोईन अली ने 24 और समित पटेल ने नाबाद 21 रन बनाये। पावेल ने 27 गेंद की अपनी पारी में चार चौके और छह छक्के लगाये। विल जैक्स ने हालांकि पावेल की पारी का रंग फीका कर दिया। उन्होंने 22 गेंदों पर नाबाद 57 रन बनाये जिससे टाइगर्स ने 9.1 ओवर में पांच विकेट पर 130 रन बनाकर जीत हासिल की।


स्वास्थ्य: किडनी का हेल्दी रहना बेहद जरूरी

मोमिन मलिक         किडनी हर किसी के शरीर का सबसे अभिन्न अंग होता है। हेल्दी लाइफस्टाइल और हेल्दी डाइट के लिए किडनी का हेल्दी रहना भी बेहद जरूरी है। हमारे शरीर से टॉक्सिन को बाहर निकालने में किडनी मदद करता है।अगर आप रोजमर्रा में अनहेल्दी चीजों का सेवन करते हैं, तो ये शरीर को ही नहीं किडनी को भी नुकसान पहुंचाता है। यही कारण है कि किडनी को डैमेज से बचाने के लिए आप हेल्दी चीजों का सेवन करें।

अगर किडनी खराब हो जाती है तो शरीर में हार्ट से रिलेटेड बीमारियां भी होने लगती हैं, यही कारण है कि शरीर को स्वस्थ्य रखने के लिए किडनी का भी हेल्दी रखन बेहद आवश्यक है। एंटीऑक्सीडेंटस से भरपूर फूड्स किडनी को हेल्दी रखने में मददगार माने जाते हैं।तो आइए जानते हैं ऐसे कुछ फूड्स के बारे में बताते हैं।जो किडनी को हेल्दी रखने में मदद कर सकते हैं।



रविवार, 21 नवंबर 2021

मैच: भारतीय टीम ने 2-0 की अजेय बढ़त बनाईं

मैच: भारतीय टीम ने 2-0 की अजेय बढ़त बनाईं

मोमिन मलिक      वेलिंग्टन। टीम इंडिया अपने ही घर में न्यूजीलैंड के खिलाफ 3 टी-20 की सीरीज खेल रही है। इसमें भारतीय टीम ने शुरुआती दो मैच जीतकर 2-0 की अजेय बढ़त बना ली है। तीसरा और आखिरी मैच रविवार (21 नवंबर) को कोलकाता में खेला जाएगा। यदि इस मुकाबले में टीम इंडिया जीत दर्ज करती है, तो एक बड़ी उपलब्धि हासिल कर लेगी। दरअसल, न्यूजीलैंड के खिलाफ कोलकाता मैच जीतते ही टीम इंडिया कीवी टीम को सीरीज में 3-0 से क्लीन स्वीप कर देगी। ऐसे में यह लगातार दूसरी टी-20 सीरीज होगी, जिसमें टीम इंडिया इस न्यूजीलैंड टीम को क्लीन स्वीप करेगी। इससे ठीक पहले वाली द्विपक्षीय सीरीज में भारतीय टीम ने न्यूजीलैंड को उसी के घर में 5-0 से हराया था।

पिछली सीरीज जनवरी 2020 में खेली गई थी। टीम इंडिया ने न्यूजीलैंड दौरे पर 5 टी-20 की सीरीज में क्लीन स्वीप किया था। तब शुरुआती 4 मैचों में भारतीय कप्तान विराट कोहली थे। जबकि आखिरी मुकाबले में रोहित शर्मा ने कमान संभाली थी।


सेलिब्रिटी विज्ञान: अपने दर्शकों को गलत बताया

ऐसा लगता है कि हम गलत जानकारियों के दौर में जी रहे हैं। कई प्रसारणकर्ता और सोशल मीडिया सेलिब्रिटी विज्ञान एवं डेटा के बारे में सार्वजनिक तौर पर अपने दर्शकों को गलत तथ्य या गलत व्याख्या बताते हैं। इनमें से कई दर्शक, जो सुनना चाहते हैं, यदि वह उन्हें बताया जा रहा हो तो उन्हें इस बात की परवाह तक नहीं होती कि उन्हें दी जा रही जानकारी सही है या गलत। गलत सूचनाओं का प्रसार लोगों के अपने ज्ञान और फैसले पर अत्यधिक भरोसे के कारण होता है। कई मामलों में यह स्वहित से जुड़ा होता में से कई लोगों की विरोधाभासी मान्यताएं होती हैं। 

हो सकता है कि हम ऐसा विश्वास करते हों कि मौत की सजा से अपराध पर लगाम लगती है या न्यूनतम वेतन बढ़ाने से बेरोजगारी कम होती हो या कारोबारी कर बढ़ाने से नवोम्नेष में कमी आती हो। हो सकता है कि हम सोचते हों कि महिलाओं का गणित पुरूषों के मुकाबले कम अच्छा होता है या फिर कोई यह भी मान सकता है कि धरती चपटी है। इनमें से कई मान्यताओं पर हम बहुत ही मजबूती से भरोसा करते हैं लेकिन जब भी हम इन मान्यताओं को तार्किक रूप से सही साबित करने की कोशिश करते हैं तो पाते हैं कि हमारे पास इसके पक्ष में साक्ष्य तो हैं ही नहीं।

इस तरह के लोगों के बारे में कहा जाता है कि उन पर ‘डनिंग-क्रुगर’ प्रभाव है। इसका मुख्य रूप से मतलब यह है कि किसी व्यक्ति को किसी बात पर बहुत अधिक भरोसा है तो इसका मतलब यह नहीं है कि वह सही ही है। अत्यधिक आत्मविश्वास से भरे लेकिन इसे लेकर गलत लोगों में यह आत्मविश्वास उनकी अनभिज्ञता के कारण नहीं होता बल्कि इसलिए होता है क्योंकि वे हर चीज के बारे में स्वाभाविक रूप से आश्वस्त होते हैं। कुछ अनुसंधानकर्ता इसे उनका अहंकार बताते हैं।

विकल्प मौजूद होने की स्थिति में हमारी मान्यताएं किस तरह तय होती हैं? वैज्ञानिक साक्ष्य इसमें मददगार हो सकते हैं लेकिन फिर भी हम उसी बात पर विश्वास करते हैं जिस पर हम विश्वास करना चाहते हैं। कई बार जब हमें यह पता चलता है कि किसी मान्यता विशेष का समर्थन ‘हमारी’ ओर का व्यक्ति कर रहा है तो उस मान्यता को समर्थन देने के लिए यही पर्याप्त होता है। ऐसे कई ताजा विवादों में यह बात सामने आई है। 

शनिवार, 20 नवंबर 2021

एटीपी फाइनल्स के सेमीफाइनल में प्रवेश किया

एटीपी फाइनल्स के सेमीफाइनल में प्रवेश किया
अखिलेश पांडेय          
तूरिन। एक साल पहले ही विश्व रैंकिंग में शीर्ष 30 में पहुंचे नॉर्वे के 22 वर्ष के कैस्पर रूड ने सत्र के आखिरी एलीट एटीपी फाइनल्स के सेमीफाइनल में प्रवेश कर लिया है। इससे पहले शीर्ष वरीयता प्राप्त नोवाक जोकोविच, दूसरी रैंकिंग वाले दानिल मेदवेदेव और तीसरी रैंकिंग वाले अलेक्जेंडर ज्वेरेव पहले ही सेमीफाइनल में पहुंच चुके हैं।
रूड ने आंद्रे रूबलेव को 2, 6, 7, 5, 7, 6 से हराकर अंतिम चार में जगह बनाई। अब उनका सामना अमेरिकी ओपन चैम्पियन मेदवेदेव से होगा। इससे पहले औपचारिकता के एक मैच में जोकोविच ने ब्रिटेन के कैमरन नॉरी को 6, 2, 6, 1 से हराया। नॉरी चौथी रैंकिंग वाले स्टेफानोस सिटसिपास की जगह खेल रहे हैं।

योगासन तरीके से समस्याओं का निवारण
मो. रियाज         योग शारीरिक और मानसिक हर तरह की समस्याओं का निवारण नेचुरल तरीके से करता है। मोटापे की समस्या से परेशान हों या फिर तनाव ग्रस्त हों। नियमित योगासन करने से दोनों ही परेशानियों का हल निकलता है और असर देखने को मिलता है। इतना ही नहीं शरीर संबंधी कोई भी रोग हो। जैसे कम लंबाई होने पर भी योगासन से काफी हद तक अपनी लंबाई बढ़ा सकते हैं। बच्चे हो या बड़े नियमित योगाभ्यास से लंबे हो सकते हैं। दरअसल मानव शरीर अपने जींस के मुताबिक ही ग्रोथ पाता है। ऐसे में कई बच्चों या बड़ों की लंबाई कम हो सकती है। हर इंसान अच्छी लंबाई चाहता है। इसलिए वह शारीरिक कसरत से लेकर दवाएं और बूस्टर आदि का सेवन तक करने लगते हैं। हालांकि इन उपायों से लंबाई बढ़ने के चांस कम होते हैं। लेकिन योगासन से नेचुरल तरीके से लंबाई बढ़ाई जा सकती है। चलिए जानते हैं लंबाई बढ़ाने वाले योगासन के बारे में। 
ताड़ासन: इस आसन को करने के लिए अपने दोनों एड़ी और पंजे के बीच कुछ दूरी बनाकर सीधे खड़े हो जाएं। दोनों हाथों को कमर की सीध से ऊपर ले जाते हुए हथेलियों और उंगलियों को मिलाएं। नजर सामने और गर्दन सीधी रखें। पैरों की एड़ियों को ऊपर की ओर उठाते हुए पूरे शरीर को भार पंजो पर दें। पेट को अंदर रखें। संतुलन बनाते हुए इसी अवस्था में कुछ देर रहें।
शीर्षासन: लंबाई बढ़ाने के लिए ये योगासन करते समय घुटनों के बल बैठ जाएं। अब सांस लेते हुए सिर को घुटनों से होते हुए फर्श तक ले जाएं। दोनों हाथों की उंगलियों को सिर के पीछे से पकड़ते हुए पीछे के भाग को सहारा दें। अब पैरों को धीरे धीरे ऊपर उठाएं और एकदम सीधा रखें। आप इसके लिए दीवार का सहारा ले सकते हैं। अपना शरीर सीधा रखें। संतुलन बनाते हुए इस पोजीशन में 20 सेकेंड तक रहें। इस दौरान गहरी सांस लें। फिर सांस छोड़ते हुए पुरानी वाली मुद्रा में आ जाएं। 
वृक्षासन:  लंबाई बढ़ाने के लिए इस योगासन को करने के लिए फर्श पर एक पैर के बल पर खड़े हो जाएं। अब हाथों को बगल में रखें और बाएं पैर पर खड़े होते हुए दाहिने पैर को घुटनों पर मोड़ लें। इस अवस्था में संतुलन बना कर रखें और फिर दोनों हाथों को सिर के ऊपर से उठाते हुए कोहनी को मोड़ें। अब अपनी हथेलियों को आपस में मिला लें। धीरे धीरे सांस लेते हुए कुछ देर इस पोजीशन में रहें और फिर दूसरे पैर से भी यही प्रक्रिया दोहराएं। 
चक्रासन: लंबाई बढ़ाने के लिए आप चक्रासन कर सकते हैं। इसे करने के लिए सबसे पहले पीठ के बल लेटकर अपने दोनों हाथों और पैरो को एक सीध में रखें। अब पैरों के घुटनों को मोड़ते हुए दोनों हाथों को पीछे की ओर ले जाएं। दोनों पैरों पर वजन डालते हुए कूल्हों को ऊपर की ओर उठाएं। फिर दोनों हाथों पर भी अपना वजन डालें और कंधों को ऊपर उठा लें। जमीन से शरीर को उठाते समय अपने हाथ और पैर को पूरी सीध में रखें।

शुक्रवार, 19 नवंबर 2021

एशियाई चैम्पियंस ट्रॉफी के लिए आरामः हॉकी

एशियाई चैम्पियंस ट्रॉफी के लिए आरामः हॉकी 

अकांशु उपाध्याय         नई दिल्ली। कप्तान रानी रामपाल को अगले महीने होने वाली महिला हॉकी एशियाई चैम्पियंस ट्रॉफी के लिये आराम दिया गया है और गोलकीपर सविता पूनिया 18 सदस्यीय भारतीय टीम की कमान संभालेंगी। टूर्नामेंट दक्षिण कोरिया के डोंगाइ में पांच से 12 दिसंबर तक खेला जायेगा।

भारत को पहले ही दिन अभियान की शुरूआत करनी है। टूर्नामेंट में चीन, कोरिया, जापान, थाईलैंड, मलेशिया भी भाग ले रहे हैं। इस साल एफआईएच की सर्वश्रेष्ठ गोलकीपर चुनी गई सविता टूर्नामेंट में कप्तानी करेंगी। डिफेंडर दीप ग्रेस इक्का उपकप्तान होगी। तोक्यो ओलंपिक खेलने वाली फॉरवर्ड लालरेम्सियामी और शर्मिला देवी और मिडफील्डर सलीमा टेटे भी टीम में नहीं हैं। ये तीनों जूनियर टीम का हिस्सा हैं जो पांच दिसंबर से दक्षिण अफ्रीका में एफआईएच विश्व कप खेलेगी।


दुनिया का सबसे महंगा पौधा, जानिए कीमत
मो. रियाज       चंदन की कीमत के बारे में सुना है। इसका उपयोग पूजा के साथ-साथ महंगे सौंदर्य प्रसाधनों के निर्माण में भी किया जाता है। यही कारण है कि चंदन के लिए आप चंदन की कीमत के बारे में सुनते हैं। इसका उपयोग पूजा के साथ-साथ महंगे सौंदर्य प्रसाधनों के निर्माण में इसीलिए चंदन की इतनी मांग है। लेकिन क्या आप चंदन की खेती के बारे में जानना चाहते हैं? हालाँकि हम आपके लिए कुछ विवरण लाए हैं। देश के बहुत कम हिस्सों में चंदन की खेती की जाती है। अगर कोई पेड़ लगाता है, तो लंबी अवधि में आय 5 लाख रुपये होगी। यह हम नहीं कह रहे हैं। जो किसान खेती कर रहे हैं उनकी कहावत। आप जितनी अधिक भूमि पर चंदन के पेड़ लगाएंगे। उतनी ही आपकी आय बढ़ेगी।

महंगा पौधा खेत में चंदन के पेड़ लगाने से पहले पौधों को खरीदना चाहिए। ये पौधे बहुत महंगे हैं। यदि थोक में खरीदा जाता है,तो आप प्रति संयंत्र 400-500 रुपये की दर से खरीद सकते हैं। चंदन लगाते समय बरती जाने वाली विशेष सावधानियों में से एक यह है कि इसकी खेती तभी की जाए। जब इसे मेजबान पौधों के साथ मिलाकर लगाया जाए। मेजबान भी एक प्रकार का पौधा है, जिसे चंदन के साथ लगाया जाता है। यदि मेजबान पौधा मर जाता है, तो चंदन भी मर जाता है। 1 एकड़ खेत में 600 चंदन और 300 होस्ट प्लांट लगाए जाएंगे।चंदन का पौधा तैयार होने के बाद वन विभाग को कहना चाहिए कि वह पेड़ों को काटने के लिए तैयार है। निर्यात कार्य तब शुरू होगा जब वन विभाग आगे निर्देश देगा। चंदन दुनिया का सबसे महंगा पेड़ है। क्योंकि इसकी लकड़ी 27 हजार प्रति किलो तक बिकती है। एक पेड़ से 15-20 किलो लकड़ी निकलती है। इसकी बिक्री से 5-6 लाख रुपये कमाए जा सकते हैं।

गुरुवार, 18 नवंबर 2021

खेल: 5 विकेट की जीत में अहम भूमिका निभाईं

क्रिकेट: 5 विकेट की जीत में अहम भूमिका निभाईं

मोमिन मलिक       ब्रिसबेन। आस्ट्रेलिया के विकेटकीपर बल्लेबाज मैथ्यू वेड ने गुरुवार को कहा कि वह अगले साल उनके देश में होने वाले टी-20 विश्व कप के बाद संन्यास ले सकते हैं। वेड ने हाल में संपन्न टी-20 विश्व कप के सेमीफाइनल में पाकिस्तान पर आस्ट्रेलिया की पांच विकेट की जीत में अहम भूमिका निभाते हुए 17 गेंद में नाबाद 41 रन की पारी खेली थी।

एशेज के लिए आस्ट्रेलियाई टीम में जगह बनाने की दौड़ में वेड को एलेक्स कैरी ने पछाड़ दिया और इस विकेटकीपर का लक्ष्य अब अगले साल स्वदेश में टी20 विश्व कप खिताब की रक्षा में मदद करना है। ‘क्रिकेट.कॉम.एयू’ ने वेड के हवाले से कहा, ”यह मेरी अगली प्रेरणा है- उम्मीद करता हूं कि उस विश्व कप में खेलने का मौका मिलेगा, खिताब का बचाव करेंगे और इसके बाद मैं संन्यास ले सकता हूं।”


विंटर में अपनी स्किन की केयर करनीं जरूरी
मो. रियाज        सर्दियों में अधिकतर स्किन रूखी और बेजान हो जाती है। इसलिए विंटर में हमें अपनी स्किन की ज्यादा केयर करनी पड़ती है। ऐसे में जड़ी-बूटियां स्वास्थ्य और सौंदर्य दोनों के लिए अत्यधिक लाभकारी सिद्ध हुई हैं। जड़ी बूटियों में शक्तिशाली उपचार गुण भी होते हैं। इनमें विटामिन, मिनरल, एंजाइम और अन्य मूल्यवान तत्व भी होते हैं। जो त्वचा और बालों के स्वास्थ्य और सुंदरता के लिए महत्वपूर्ण हैं। आइए जानते हैं कौन सी ऐसी जड़ी-बूटियां हैं जो स्किन केयर में काम आती हैं।
हल्दी: हल्दी प्राचीन काल से ये हमारे पारंपरिक औषधीय और सौंदर्य का एक हिस्सा है। ये त्वचा को मुलायम और ग्लोइंग बनाने के साथ-साथ दर्द और सूजन को कम करने में भी काफी मददगार होती है। अगर हल्दी का नियमित रूप से इस्तेमाल किया जाए तो ये टैन हटाने और त्वचा पर निखार लाने में मदद कर सकती है। टैन हटाने के लिए थोड़े से दही में एक चुटकी हल्दी मिलाएं और इसे रोजाना चेहरे पर लगाएं। 20 मिनट बाद इसे धो लें। तुलसी: तुलसी आमतौर पर घरों में कई प्रकार की बीमारियों के लिए इस्तेमाल की जाती है। ये सर्दी और खांसी का इलाज करने में मदद करती है, जो सर्दियों के दौरान काफी आम है। इसके अलावा ये त्वचा और स्कैल्प के लिए भी फायदेमंद है। तुलसी के पत्तों को पानी में उबाल लें और पत्तियों को ठंडा करके पेस्ट बना लें। इस पेस्ट को अपनी त्वचा पर लगाएं। ये सूजन को कम करने में मदद करेगा। इसके साथ ही ये त्वचा पर ग्लो लाता है। आंवला: ये आयुर्वेदिक उपचार में सबसे लोकप्रिय सामग्री में से एक है। ये सर्दियों के दौरान बहुत आसानी से उपलब्ध होता है और त्वचा और बालों को स्वस्थ बनाता है। इसलिए रोजाना एक गिलास पानी में एक कच्चे आंवले का रस मिलाकर पिएं। आंवला हेयर ऑयल बनाने के लिए, बस एक मुट्ठी सूखा आंवला लें, इसे दरदरा पीस लें और इसे 100 मिलीलीटर नारियल तेल में मिला लें। इस तेल को कांच की किसी एयरटाइट बोतल में भरकर करीब 15 दिन तक धूप में रखें। फिर तेल को छानकर स्टोर कर लें। जब भी मन करे इसे अपने बालों पर लगाएं।

बुधवार, 17 नवंबर 2021

उस्मान को 15 सदस्यीय टीम में शामिल किया

उस्मान को 15 सदस्यीय टीम में शामिल किया  

ब्रिसबेन। मध्यक्रम के बल्लेबाज उस्मान ख्वाजा को इंग्लैंड के खिलाफ अगले महीने से शुरू होने वाली एशेज श्रृंखला के पहले टेस्ट मैच के लिये आस्ट्रेलिया की 15 सदस्यीय टीम में शामिल किया गया है। यह 34 वर्षीय बल्लेबाज 2019 की एशेज श्रृंखला के दौरान टीम से बाहर किये जाने के बाद से आस्ट्रेलिया की तरफ से नहीं खेला है, लेकिन उन्होंने घरेलू क्रिकेट में क्वीन्सलैंड के लिये अच्छा प्रदर्शन किया है और मध्यक्रम में एक जगह के लिये वह ट्रैविस हेड को चुनौती दे सकते हैं।

एशेज का पहला मैच आठ दिसंबर को ख्वाजा के घरेलू मैदान गाबा में शुरू होगा। इससे पहले आस्ट्रेलिया ब्रिसबेन में ही एक अन्य मैदान पर एक से तीन दिसंबर के बीच ट्रायल मैच खेलेगा। आस्ट्रेलियाई चयनकर्ता जार्ज बैली ने कहा कि ख्वाजा शैफील्ड शील्ड में अच्छी लय में हैं। ख्वाजा ने अब तक 44 टेस्ट मैचों में लगभग 41 की औसत से रन बनाये हैं जिसमें आठ शतक भी शामिल है।


शरीर के लिए पानी पीने का सही तरीका
 मो. रियाज        

आपके शरीर को कितने पानी की जरूरत है। यह आपके उम्र, मौसम और एक्टिविटी लेवल पर निर्भर करता है। लेकिन पानी कब पीना चाहिए और किस तरह से पीना चाहिए यह नियम सभी के लिए एक समान है। पानी को लेकर क्या कहता है। शरीर के लिए पानी पीना कितना जरूरी है, ये तो हम सभी जानते हैं। इसलिए ज्यादातर डॉक्टर और हेल्थ एक्सपर्ट्स रोजाना 5-6 गिलास पानी पीने की सलाह देते हैं। हालांकि आपके शरीर को कितने पानी की जरूरत है, यह इस बात पर निर्भर करता है। आपकी उम्र कितनी है, आप किस वातावरण में रहते हैं। 
मौसम कैसा है और आप कितनी फिजिकल एक्टिविटी करते हैं। बावजूद इसके रोजाना कम से कम 4 गिलास पानी तो औसतन सभी के लिए जरूरी है। लेकिन जिस तरह भोजन करने का एक सही तरीका होता है कि हमेशा बैठकर और आराम से चबा-चबाकर खाना खाना चाहिए। उसी तरह क्या पानी पीने के भी कुछ नियम होते हैं पानी कब पीना चाहिए, किस तरह से पीना चाहिए, कैसा पीना चाहिए आइये हम बताते है आपको।
क्या है पानी पीने का सही तरीका ?
खड़े होकर पानी नहीं पीना चाहिए। पानी हमेशा बैठकर आराम से रिलैक्स होकर पीना चाहिए खड़े होकर पानी पीने से पानी हड्डियों के जोड़ में जमा हो सकता है। जिससे आर्थराइटिस का खतरा रहता है।
क्या है पानी पीने का सही समय ?
भोजन करने के बाद 1-2 घूंट पानी पिएं, ज्यादा नहीं।अगर आप खाना खाने के तुरंत बाद बहुत अधिक पानी पिएंगे तो पाचन क्रिया के लिए पेट में जगह ही नहीं होगा। हमेशा याद रखें कि अपने पेट को 50 प्रतिशत भोजन से भरें, 25 प्रतिशत पानी से और 25 प्रतिशत खाली जगह रखें।
आजकल बहुत से लोग पानी पीने के लिए फोन में अलार्म लगाकर रखते हैं और हर 1-2 घंटे में पानी पीते रहते हैं। लेकिन आयुर्वेद कहता है कि जब आपको प्यास लगे, जब पानी की जरूरत महसूस हो सिर्फ तभी पानी पिएं। प्यास लगने का मतलब है कि शरीर को पानी की जरूरत है। सुबह उठते ही खाली पेट पानी पीने की आदत डालें, इसे ऊषापान कहते हैं। ऐसा करने से शरीर से हानिकारक टॉक्सिन्स बाहर निकल जाते हैं। जिससे बीमारियों से बचने में मदद मिलती है।
एक ही बार में 1 गिलास पानी पूरा पीने की बजाए आपको एक-एक घूंट करके आराम से धीरे-धीरे पानी पीना चाहिए इसका कारण ये है कि एक बार में ज्यादा पानी पी लेने से शरीर उसे अवशोषित नहीं कर पाता और ज्यादातर पानी तुरंत शरीर से बाहर निकल जाता है। हमेशा रूम टेंपरेचर पर रखा हुआ सादा पानी ही पिएं।आप चाहें तो हल्का गुनगुना पानी भी पी सकते हैं लेकिन बर्फ वाला बहुत अधिक ठंडा पानी बिलकुल न पिएं।

मंगलवार, 16 नवंबर 2021

खेल: मैन ऑफ द मैच को लेकर भड़के शोएब

खेल: मैन ऑफ द मैच को लेकर भड़के शोएब
अकांशु उपाध्याय        
नई दिल्ली। हाल ही में हुए टी20 वर्ल्ड 2021 के मैन ऑफ द मैच को लेकर पाकिस्तान के पूर्व तेज गेंदबाज शोएब अख्तर भड़क गये हैं। क्योंकि उनसे ज्यादा रन इन टूर्नामेंट में महज पाकिस्तान के एक बल्लेबाज और कप्तान बाबर आजम के नाम दर्ज हैं। उन्होंने कहा कि बाबर आजम के साथ नाइंसाफी की गई है।
शोएब अख्तर ने कहा कि मेरी नजर थी कि पाकिस्तान टीम के कप्तान बाबर आजम को प्लेयर ऑफ द टूर्नामेंट के लिये चयनित किया जायेगा। आस्ट्रेलिया के खिलाड़ी डेविड वॉर्नर के लिये चुना गये प्लेयर ऑफ द टूर्नामेंट को लेकर नाइंसाफी बताया है। शोएब अख्तर का कहना है कि डेविड वॉर्नर को प्लेयर ऑफ द टूर्नामेंट चुने जाने का निर्णय को गलत बताया हैै। उन्होंने कहा कि बाबर आजम ने छह मैचों में 60.60 की औसत और 126.25 के स्ट्राइक रेट से इस टूर्नामेंट में कुल 303 रन बनाये हैं। डेविड वॉर्नर ने सात मैचों में 48.17 की औसत और 146.70 के स्ट्राइक रेट से कुल 289 रन बनाए। टी20 वर्ल्ड कप 2021 का फाइनल मैच 14 नवंबर को दुबई में आस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड के बीच खेला गया। इस मैच में डेविड वॉर्नर ने 53 रनों की पारी खेली थी और पाकिस्तान के खिलाफ सेमीफाइनल में 49 रन बनाकर पारी खेली थी।

हेल्दी डाइट और वर्कआउट का परिणाम प्रभावित
मोमिन मलिक       सर्दियों के समय अक्सर कैलोरी इंटेक बढ़ जाता है। इसके साथ ही कड़कड़ाती ठंड आपको एक्सरसाइज करने से रोकती है। हाइ कैलोरी इंटेक और लो कैलोरी बर्न का यह कॉम्बो सर्दियों के मौसम में आपके बढ़ते वजन का कारण बन जाता है। इस दौरान आपके पूरे साल की हेल्दी डाइट और वर्कआउट का परिणाम प्रभावित हो सकता है। इससे बचने के लिए आपको अपने डाइट को और सख्त करने की आवश्यकता है। 
इसका मतलब उबला या बेस्वाद खाने का सेवन करना नहीं है। प्राकृतिक रूप से सर्दियों में मिलने वाले विशेष खाद्य पदार्थ आपके फिटनेस गोल्स को पूरा करने में मदद करेंगे। ठंड के मौसम में पाए जाने वाले फल और सब्जियां आपके वेट लॉस जर्नी को आसान बना सकते हैं। जानिए इन सुपरफूड्स के बारे में। 
1. गाजर 
गाजर ज्यादातर सर्दियों क मौसम में उपलब्ध होनेवाली सब्जी है। गाजर के सेवन से आपको विटामिन ए,सी, डी का भरपूर खुराक मिल सकता है। इसके अलावा यह फोलेट, आयरन, पोटैशियम और फ़ाइबर से भी भरपूर है। गाजर वेट लॉस के साथ आपक आंखों की रोशनी के लिय भी फायदेमंद है। यह इम्यूनिटी बढ़ाने के साथ कैंसर सेल्स से भी लड़ता है। आप गाजर को सलाद, सब्जी, हलवा, आदि के रूप में खा सकते हैं।  
2. चुकंदर
चुकंदर सर्दियों में उगाई जाने वाली सेहतमंद सब्जियों में से एक है। यह आपके बॉडी डिटॉक्स के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। वेट लॉस में मदद करने के साथ यह अपच और कब्ज जैसी परेशानियों से भी राहत देता है। चुकंदर आयरन का महत्वपूर्ण स्रोत है जिसके कारण यह खून की कमी या एनीमिया से भी लड़ता है। आप इसका  सलाद या डिटॉक्स ड्रिंक बनाने में इस्तेमाल कर सकते हैं। 
3. पालक 
सर्दियां आते ही पालक पनीर खाने की क्रेविंग बढ़ जाती है। पालक का सेवन आपको वजन घटाने में मदद कर सकता है। यह फ़ाइबर युक्त होने की वजह से पाचन स्वस्थ रखता है और शरीर में अतिरिक्त फैट को जमने से रोकता है। पालक आयरन का महत्वपूर्ण स्रोत है। इसलिए एनीमिया से पीड़ित लोगों को इसका नियमित सेवन करना चाहिए। इसके अलावा यह स्वस्थ बालों और खूबसूरत त्वचा भी प्रदान करता है।  
फलों में सेहतमंद।
1. अमरूद 
सर्दियों के मौसम में अमरूद का सेवन बढ़ जाता है। कई जरूरी विटामिन और मिनेरल से भरपू है अमरूद। इसके वेट लॉस और अन्य स्वास्थ्य फ़ायदों के कारण इसे अपनी विंटर डाइट में जरूर शामिल करें। फ़ाइबर से भरपूर होने के कारण यह आपके मेटाबोलिस्म को मजबूत रखने में मदद करता है। हफ्ते में कम से कम एक बार अमरूद का सेवन जरूर करें। 
2. संतरा 
विटामिन सी का मुख्य स्रोत और वेट लॉस के लिए रामबाण है संतरा। यह खट्टा-मीठा फल आपके वजन घटाने की योजना का हिस्सा जरूर होना चाहिए। यह आपके शरीर से टॉक्सिक पदार्थों को बाहर निकालकर आपको हल्का महसूस करवा सकता है। यह आपकी इम्युनिटी को मजबूत करता है और आप मौसमी संक्रमनों से बच सकते हैं। 
3. नाशपाती 
नाशपाती विटामिन सी, ए और डी से भरपूर होती है। साथ ही नाशपाती में डाइटरी फाइबर होता है जो पाचन को मजबूत करता है। हेल्दी मेटाबोलिस्म आपके वजन को नियंत्रित रखने में मदद करता है। साथ ही यह कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने और हृदय रोगों के जोखिमों से भी बचाता है। अगर आप वजन घटाना चाहते हैं तो कम कैलोरी वाले इस फल को अपनी विंटर डाइट में स्नैक के तौर पर शामिल कर सकते हैं। 
4. अनानास 
अनानास विटामिन सी, मैंगनीज और कई तरह के एंटी ऑक्सीडेंट्स से भरा हुआ होता है। यह आपकी हड्डियों को मजबूत करने और ब्लड शुगर को नियंत्रित रख्त है। साथ ही इसका जूस आपके शरीर को टॉक्सिक पदार्थ से दूर रखने में मदद कर सकता है। वेट लॉस के लिए आपको अनानास का सेवन जरूर करना चाहिए।
तो लेडीज, इस विंटर सीजन अपनी डाइट में ये जरूरी फल और सब्जियों को जरूर शामिल करें। यह आपके वेट लॉस जर्नी को आसान और स्वादिष्ट बना सकते हैं।

सोमवार, 15 नवंबर 2021

स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद हैं 'मूली'

रविवार, 14 नवंबर 2021

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ प्रदर्शन, माफी मांगी

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ प्रदर्शन, माफी मांगी

मोमिन मलिक     इस्लामाबाद/ सिडनी। पाकिस्तान के तेज गेंदबाज हसन अली ने टी20 विश्व कप सेमीफाइनल में आस्ट्रेलिया के खिलाफ निराशाजनक प्रदर्शन के लिए माफी मांगते हुए कहा कि वह किसी भी अन्य व्यक्ति से अधिक निराश हैं और उन्होंने अपने करियर के इस खराब दौर से उबरते हुए मजबूत होकर वापसी करने का वादा किया।

हसन ने गुरुवार को दुबई में 19वें ओवर में शाहीन शाह अफरीदी की गेंद पर डीप मिडविकेट पर मैथ्यू वेड का कैच टपकाया और उनकी यह गलती महंगी साबित हुई जब आस्ट्रेलिया के विकेटकीपर बल्लेबाज ने लगातार तीन छक्के जड़कर अपनी टीम को पांच विकेट की जीत के साथ फाइनल में जगह दिला दी। इसके साथ ही टूर्नामेंट में पाकिस्तान के शानदार अभियान का अंत भी हो गया। बाबर आजम की टीम ने ग्रुप चरण में लगातार पांच मैच जीतकर फाइनल में जगह बनाई थी।


ओषधि: गाजर के बीज का इस्तेमाल कारगर

सर्दियों का मौसम शुरू होते ही बाजार में गाजर आनी भी शुरू हो जाती है। गाजर में फैट न के बराबर होता है, लेकिन पौष्टिकता भरपूर मात्रा में होता है, जैसे- सोडियम, पोटाशियम, कार्बोहाइड्रेड, प्रोटीन, विटामिन ए, डी, सी, बी6 आदि होते हैं। इन पौष्टिकताओं के कारण गाजर को कान का दर्द, मुंह का बदबू,पेट दर्द जैसे बीमारियों के लिए गाजर के जड़, फल और बीज का इस्तेमाल औषधि के लिए किया जाता है। गाजर खाना खास तौर पर आंखों की रोशनी बढ़ाने के लिए जाना जाता है। इम्यूनिटी के लिए गाजर का जूस अद्भुत माना जाता है। सर्दी के मौसम में अन्य ड्रिंक्स की जगह पर गाजर के जूस को अपनी डाइट का हिस्सा बनाकर अनगिनत फायदे हासिल करें। 

गाजर का जूस पीने के फायदे। इम्यून‍िटी बढ़ाने में फायेदमंद: एक गि‍लास गाजर का जूस आपकी इम्यून पावर को बढ़ाता है। गाजर में कई ऐसे मिनरल्स भी होते हैं। विटामिन ए के लिए भी गाजर अच्छा स्त्रोत है। गाजर में व‍िटाम‍िन बी6, वि‍टाम‍िन के, फासफोरस और पोटेशि‍यम होता है। गाजर का जूस आपके शरीर को फ्री रे‍ड‍िकल्स डेमेज से लड़ने में मददगार साबि‍त होगा। इतना ही नहीं पोटेशियम से भरपूर गाजर आपकी रक्त वाहिकाओं और धमनियों को आराम देने में मदद करती है। यह सोडियम के दुष्प्रभावों को बेअसर करती है। यह एथेरोस्क्लेरोसिस और स्ट्रोक के जोखिम को भी कम करती है। आप इसे सब्‍जी, शोरबे और जूस में शामिल कर सकते हैं।

आंखों की रोशनी के लिए फायदेमंद: गाजर का रस कैरोटीनॉयड का एक बहुत अच्छा स्रोत है, जिसमें बीटा कैरोटीन, ल्यूटिन और जेक्सैन्थिन शामिल होते हैं। जो आंखों के स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण माने जाते हैं। गाजर आपकी आंखों के लिए अच्छा होता है और यह विटामिन ए से भी भरपूर होता है। विटामिन ए की कमी से आंखों की रोशनी कमजोर हो सकती है। ऐसे में आंखों की रोशनी को बढ़ावा देने के लिए रोजाना गाजर का जूस पिएं। ब्लड शुगर को कंट्रोल करने के लिए फायदेमंद: गाजर में मौजूद मैगनीज, मैग्नीशियम और कैरीटोनॉयड पाया जाता है। जो ब्लड शुगर को कंट्रोल करने में मदद करता है। लेकिन डायबिटीज के मरीज इसका सेवन अधिक मात्रा में करने से बचें। खांसी ठीक करने के लिए फायदेमंद: गाजर के रस में मिश्री व काली मिर्च मिलाकर पीने से खांसी ठीक हो जाती है। कफ कि समस्या में भी आराम मिलता है।

शनिवार, 13 नवंबर 2021

खेल: कप्तानी की भूमिका छोड़ देनी चाहिए

खेल: कप्तानी की भूमिका छोड़ देनी चाहिए
मोहम्मद रियाज        
इस्लामाबाद। पाकिस्तान के पूर्व कप्तान शाहिद अफरीदी को लगता है कि भारतीय कप्तान विराट कोहली को बल्लेबाज के तौर पर और अधिक बेहतर प्रदर्शन करने के लिये खेल के सभी प्रारूपों में कप्तानी की भूमिका छोड़ देनी चाहिए। ‘समा टीवी चैनल’ पर बात करते हुए अफरीदी ने कहा कि बीसीसीआई (भारतीय क्रिकेट बोर्ड) का रोहित शर्मा को भारतीय टी20 टीम का कप्तान नियुक्त करने का फैसला अच्छा है।
कोहली ने भारत के टी20 विश्व कप में अभियान समाप्त होने पर टी20 कप्तानी छोड़ने का फैसला किया था, जिसके बाद बीसीसीआई ने यह फैसला किया। अफरीदी ने कहा, ”मुझे लगता है कि वह भारतीय क्रिकेट के लिये अद्भुत ताकत रहा है लेकिन मुझे लगता है कि यह अच्छा होगा, अगर वह अब सभी प्रारूपों में बतौर कप्तान संन्यास लेने का फैसला कर लें। 
उन्होंने कहा, ”मैं एक साल के लिये रोहित के साथ खेला था और वह मजबूत मानसिकता वाला लाजवाब खिलाड़ी है। उसकी सबसे मजबूत चीज है कि जब जरूरी हो तो वह ‘रिलैक्स’ रह सकता है और जब बहुत जरूरी हो तो वह आक्रामकता भी दिखा सकता है। ” इस पाकिस्तानी स्टार ने कहा कि रोहित में अच्छे कप्तान के लिये मानसिक मजबूती है और उन्होंने अपनी आईपीएल (इंडियन प्रीमियर लीग) फ्रेंचाइजी मुंबई इंडियंस के लिये यह दिखा भी दिया है।
उन्होंने कहा, ”वह शीर्ष स्तर का खिलाड़ी है, उनका शॉट चयन शानदार है और खिलाड़ियों के लिये अच्छे नेतृत्वकर्ता के लिये उनके पास मानसिकता भी है। ” अफरीदी आईपीएल के शुरू होने वाले वर्ष में डेक्कन चार्जर्स में रोहित के साथ खेले थे। कोहली के टी20 कप्तानी छोड़ने के फैसले पर अफरीदी ने कहा कि वह इसकी उम्मीद कर रहे थे। अफरीदी को लगता है कि कोहली को कप्तानी छोड़कर सभी तीनों प्रारूपों में अपनी बल्लेबाजी पर ध्यान लगाना चाहिए और इसका लुत्फ उठाना चाहिए।
अफरीदी ने कहा, ”मुझे लगता है कि विराट को कप्तानी छोड़कर अपना बचे हुए क्रिकेट का लुत्फ उठाना चाहिए और मुझे लगता है कि उनका अभी काफी क्रिकेट बचा है। वह शीर्ष स्तर के बल्लेबाज हैं और वह दिमाग में किसी अन्य दबाव के बिना ‘फ्री’ होकर खेल सकते हैं। वह अपने क्रिकेट का आनंद लेंगे।
तैंतीस वर्षीय कोहली ने हाल में आईपीएल में रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर की कप्तानी से भी हटने का फैसला किया था। वहीं मुख्य कोच के तौर पर कार्यकाल खत्म कर चुके रवि शास्त्री ने हाल में एक साक्षात्कार में संकेत दिया था कि कोहली वनडे की कप्तानी भी छोड़ सकते हैं और सिर्फ टेस्ट टीम की अगुआई पर ही ध्यान लगायेंगे जो उनका पसंदीदा प्रारूप है। कोहली ने 2019 के अंत से कोई टेस्ट शतक नहीं लगाया है।

पृथ्वी पर रहस्यमय जगहें, जानिए राज
पृथ्वी पर ऐसी कई रहस्यमय जगहें हैं, जिनके राज से अब तक पर्दा नहीं उठ पाया है। इसी कड़ी में आज हम पृथ्वी के उन रहस्यमय स्थानों के बारे में जानेंगे, जो अपने भीतर कई राजों को समेट रखे हैं। हमारी सुंदर पृथ्वी पर ऐसे कई खूबसूरत स्थान हैं, जहां पर बड़ी मात्रा में लोग लुत्फ उठाने के लिए जाते हैं। वहीं दूसरी तरफ कई ऐसी रहस्यमय जगहें भी हैं, जहां पर लोग भूल कर भी जाने की हिम्मत नहीं करते हैं। ये स्थान इतने डरावने और खतरनाक हैं कि यहां पर पल भर में किसी भी व्यक्ति की जान जा सकती है। आइए जानते हैैं इन रहस्यमय स्थानों के बारे में।
डानाकिल डिप्रेशन।
इस स्थान को पृथ्वी के नरक का द्वार कहा जाता है। ये जगह कई रहस्यों को अपने भीतर समेट रखी है। डानाकिल डिप्रेशन पृथ्वी के सबसे गर्म स्थानों में से एक है। ये उत्तरी इथियोपिया नामक देश में स्थित है। इस जगह पर ज्वालामुखी की कई सघन क्रियाएं होती हैं। ये जगह इतनी गर्म है कि इसके नजदीक जाना काफी खतरनाक साबित हो सकता है।
डरावनी गुड़ियों का आइलैंड।
ये रहस्यमय जगह मैक्सिको से दक्षिण, जोचिमिको कनाल के बीच ‘ला इस्ला डे ला म्यूनेकस’ पर स्थित है। यहां आपको कई डरावनी गुड़ियां पेड़ों पर लटकी हुई दिखेंगी। स्थानीय लोगों का कहना है की दर्जनों की तादाद में यहां की गुड़ियां एक दूसरे से कानाफूसी करती हैं। वे आंखें घुमाती हैं और एक दूसरे से इशारों में बात करती हैं। ये जगह काफी खतरनाक है। अक्सर यहां पर घूमने के लिए लोगों को टूर गाइड ले जाने की सलाह दी जाती है। उन्हें अकेले इस जगह पर घूमने नहीं दिया जाता है।
बरमूडा ट्रायंगल पिछले 100 सालों से रहस्य का विषय बना हुआ है। कई शोध और रिसर्च के बाद भी वैज्ञानिक इसके राज से पर्दा नहीं उठा पाए हैं। पिछले लंबे समय से न जाने कितने विमान, एयरक्राफ्ट और जहाज इसके भीतर रहस्यमय ढंग से गायब हुए हैं। ये जगह उत्तर अटलांटिक महासागर में स्थित ब्रिटेन का प्रवासी क्षेत्र है। यह संयुक्त राज्य अमेरिका के पूर्वी तट पर मियामी (फ्लोरिडा) से महज 1770 किलोमीटर और हैलिफैक्स, नोवा स्कोटिया, (कनाडा) के दक्षिण में 1350 किलोमीटर (840 मील) की दूरी पर स्थित है। 
इजिप्ट में स्थित गीजा के पिरामिड आज भी एक रहस्य का विषय बने हुए हैं। इनकी अद्भुत कलाकृति और इतने विशाल ढांचे के कारण वैज्ञानिक आज भी इस बात को जान नहीं पाए हैं कि आज से लगभग हजारों साल पहले इसे लोगों ने कैसे बनाया था? गीजा के पिरामिड के भीतर कई ऐसे राज दफन हैं, जिनके बारे में वैज्ञानिकों को आज भी कुछ नहीं पता है।
लद्दाख में स्थित मैग्नेटिक हिल काफी रहस्यमय जगह है। यहां पर ग्रेविटी के सभी नियम विपरीत दिशा में काम करने लगते हैं। यहां अगर आप अपनी गाड़ी को सिर्फ खड़ा कर देते हैं, तो वह खुद बा खुद ऊंचाई की तरफ चढ़ाई करने लगेगी। वैज्ञानिकों का कहना है ऐसा पहाड़ों की स्ट्रोंग मैग्नेटिक फील्ड के कारण होता है। वहीं कई दूसरे विशेषज्ञों का कहना है कि ऐसा ऑप्टिकल इल्यूजन के कारण होता है। असल में रोड नीचे की तरफ जा रहा है पर भ्रम में वो हमें ऊपर जाते हुए दिखता है। हालांकि इसके राज से पूरी तरह से पर्दा अब तक नहीं उठ सका है।

शुक्रवार, 12 नवंबर 2021

सर्दियों में गोभी को पसंद करते हैं लोग

सर्दियों में गोभी को पसंद करते हैं लोग     

ठंड का मौसम आते ही फूड लवर्स के अच्छे दिन आ जाते हैं। क्योंकि इस मौसम में मनपसंद सब्जियां खाने को मिलती हैं। खास तौर पर सर्दियों में गोभी खाने को मिलता है। गोभी ऐसी सब्जी है, जिसे सर्दियों मे लोग बहुत पसंद से खाते हैं। ठंड के मौसम में तो लोगों के घरों में आए दिन गोभी की सब्जी और पराठे बनते हैं। फूलगोभी खाने में स्वादिष्ट होने के साथ ही सेहत के लिए भी बहुत फायदेमंद है। वहीं पत्ता गोभी के भी अपने अलग ही फायदे हैं, लेकिन क्या आप किसी ऐसी गोभी के बारे में जानते हैं, जो खाने के नहीं बल्कि सजावट के काम में आती है? आज हम आपको ऐसी ही एक ऐसी गोभी के बारे में बताएंगे जिसे आप खा नहीं सकते। ये गोभी खाने के लिए नहीं बल्कि घर की सजावट के काम में आती है। तो चलिए आज जानते हैं उस गोभी के बारे मे।

आपने केल सब्जी का नाम तो सुना ही होगा, खाया भी होगा। केल एक हरी पत्तेदार सब्जी है। इसे लीफ कैबेज भी कहा जाता है। ये पत्तागोभी, फूलगोभी और ब्रोकली के परिवार से ही आती है। मगर कई केल गोभी ऐसी होती हैं जो खाने के लिए नहीं, बल्कि सजावट के लिए ही उगाई जाती हैं। खाई जाने वाली केल और बंद गोभी हजारों साल पुरानी सब्जी मानी जाती है, लेकिन सजवाट के काम में आने वाली गोभी जापान में सबसे पहले उगाई गई थी। इस गोभी का नाम है ऑर्नामेंटल कैबेज। 

बात 20वीं शताब्दी की है, जब अमेरिका के कृषि विभाग ने अपने लोगों को चीन और जापान भेजकर कुछ नए पौधे लाने की जिम्मेदारी दी थी। वहां शोधकर्ताओं को खूबसूरत केल गोभी पसंद आ गईं। उसके बाद करीब 1936 से गोभियां अमेरिका के बाजारों में भी बिकने लगीं। 
ठंड के दिनों में ये गोभी आपके गार्डेन को बेहद खूबसूरत बना सकती है। बेहद ठंडे मौसम में ही ये गोभी अच्छे से खिलती है। ऑर्नामेंटल कैबेज और केल बैंगनी, सफेद और गुलाबी रंग के होते हैं। सबसे बड़ी बात ये है कि ये गोभी -15 डिग्री सेंटीग्रेड के तापमान में भी फूल सकती है। वैसे ये गोभी खाई भी जा सकती है लेकिन इसका स्वाद बेहद कड़वा होता है इसलिए इसको सिर्फ सजावट गार्डेन सजाने के काम में ही इस्तेमाल किया जाता है।  


तीन मैचों की श्रृंखला में एक-दूसरे से भिड़ेंगी टीमें    
इकबाल अंसारी      मेलबर्न। टी20 विश्व कप के फाइनल में पहुंचीं आस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड की टीमें छोटे प्रारूप में तस्मानियाई प्रतिद्वंद्विता को जारी रखते हुए वेलिंगटन में 17 मार्च से शुरू हो रही तीन मैचों की श्रृंखला में एक-दूसरे से भिड़ेंगी। आस्ट्रेलियाई टीम के अपने टेस्ट खिलाड़ी जैसे डेविड वार्नर, स्टीव स्मिथ, पैट कमिंस और मिशेल स्टार्क के बिना जाने की उम्मीद है जो पाकिस्तान में तीन मैचों की टेस्ट श्रृंखला खेलेंगे।

क्रिकेट आस्ट्रेलिया के प्रमुख निक हॉकले ने कहा कि यह दौरा कोविड-19 महामारी के कारण हुए नुकसान को देखते हुए न्यूजीलैंड क्रिकेट के सहयोग के लिये अहम होगा। हॉकले के ‘क्रिकेट डॉट कॉम डॉट एयू’ को दिये गये बयान के अनुसार, ”न्यूजीलैंड के गर्मियों के कार्यक्रम पर महामारी का काफी बुरा असर पड़ा था और हमें खुशी है कि हम इस टी20 अंतरराष्ट्रीय दौरे से अपने करीबी पड़ोसी का सहयोग कर पायेंगे।

गुरुवार, 11 नवंबर 2021

इंग्लैंड-न्यूजीलैंड के बीच खेला गया सेमीफाइनल

इंग्लैंड व न्यूजीलैंड के बीच खेला सेमीफाइनल

अकांशु उपाध्याय       नई दिल्ली। आईसीसी मेंस टी-20 वर्ल्ड कप का पहला सेमीफाइनल आज इंग्लैंड और न्यूजीलैंड के बीच खेला गया। ये मैच अबुधाबी के शेख जायद स्टेडियम में खेला गया। न्यूजीलैंड ने इंग्लैंड को 5 विकेट से हराकर फाइनल में जगह बना ली है। न्यूजीलैंड की तरफ से डेरिल मिशेल ने नाबाद 72 रन और डेवोन कॉनवे ने 46 रन बनाए। इंग्लैंड की तरफ से क्रिस वोक्स और लियाम लिविंगस्टोन ने 2-2 विकेट लिए। इससे पहले इंग्लैंड ने पहले बल्लेबाजी करते हुए निर्धारित 20 ओवर में 4 विकेट 166 रन बनाए। टीम की तरफ से मोईन अली ने सबसे ज्यादा नाबाद 51 रन और डेविड मलान ने 42 और बनाए। कीवी टीम की तरफ से टिम साउदी, ईश सोढी और एडम मिल्ने ने विकेट लिए। इससे पहले न्यूजीलैंड ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी का फैसला लिया है।


ठंड के मौसम में अमरूद खाना बेहद फायदेमंद
ठंड के मौसम में अमरूद खाना सेहत के लिए बहुत फायदेमंद है। अमरूद में एंटीऑक्सीडेंट्स, विटामिन सी, पोटैशियम और भरपूर मात्रा में फाइबर पाया जाता है। इसमें कैलोरी बहुत कम होती है। यह वज़न को कंट्रोल करने में बेहद अच्छा होता है। 
इस फल के सेवन से शुगर भी कंट्रोल में रहती है। अमरूद बॉडी में खून की कमी को पूरा करता है, साथ ही सर्दी में होने वाली सर्दी-खांसी से भी निजात दिलाता है। सर्दी में अमरूद ठंड से बचाता है।
अमरूद में मौजूद पोटैशियम और फाइबर के कारण यह दिल की सेहत के लिए फायेदमंद है। अमरूद विटामिन सी और फ्रुक्टोज से भरपूर होता है। दोनों में से किसी की भी अधिक खुराक आपको फूला हुआ ब्लोटिंग महसूस करा सकती है। पानी में घुलनशील विटामिन होने के कारण हमारे शरीर को बहुत अधिक विटामिन सी को ऑब्जर्ब करने में कठिनाई होती है, इसलिए ओवरलोडिंग अक्सर ब्लोटिंग को ट्रिगर करती है।

इसी तरह फ्रुक्टोज को भी ब्लोटिंग के लिए जिम्मेदार माना जाता है। इसमें नेचुरल शुगर शरीर द्वारा अवशोषित नहीं होती, बल्कि हमारे पेट में रह जाती है जिससे ब्लोटिंग हो जाती है।

बुधवार, 10 नवंबर 2021

ब्रिटेन की खिलाड़ी को 6-1, 6-7, 7-5 से हराया

ब्रिटेन की खिलाड़ी को 6-1, 6-7, 7-5 से हराया
वाशिंगटन डीसी। अमेरिकी ओपन चैंपियन एमा राडुकानु अपर आस्ट्रिया लेडीज लिंज टेनिस टूर्नामेंट के दूसरे दौर में चीन की क्वालीफायर वैंग शिन्यु के खिलाफ हार के साथ प्रतियोगिता से बाहर हो गईं। वैंग ने ब्रिटेन की खिलाड़ी को तीन सेट तक चले मुकाबले में 6-1, 6-7, 7-5 से हराया। राडुकानु को किसी डब्ल्यूटीए प्रतियोगिता में पहली बार शीर्ष वरीयता दी गई थी।
वैंग क्वार्टर फाइनल में अमेरिका की आठवीं वरीय एलिसन रिस्के से भिड़ेंगी। जिन्होंने एलिज कोर्नेट को 6-4, 6-4 से हराया। 
दूसरी वरीय सिमोना हालेप ने बेलारूस की एलियाकसांद्रा सासनोविच को 7-5, 6-3 से हराकर क्वार्टर फाइनल में जगह बनाई जहां उनकी भिड़ंत इटली की जास्मिन पाओलिनी से होगी।

झील बैकल पर जेन पत्थरों का अजूबा मामला
दुनिया में कई ऐसी चीजें मौजूद हैं जो आपक काफी हैरान कर देंगीं। आज हम कुछ ऐसी ही एक झील की बात करेंगे जो अपने अंदर कई राज समेटे है। प्रकृति कभी-कभी मनोरम दृश्य दिखाती है, इसी में शामिल है झील बैकल पर जेन पत्थरों का यह अजूबा मामला। बैकल झील साइबेरिया में स्थित है। यहां पत्थर जमी हुई झीलों के ऊपर मंडराते हुए नजर आते हैं। यह बर्फ की पतली सी नोक पर खुद को खड़ा करके रखते हैं, दूर से इन्हें देखकर लगता है कि जैसे यह हवा में झूल रहे हो।
बैकल झील पर एक दुर्लभ घटना देखने को मिलती है वह है वहां मौजूद जेन पत्थर, सर्दियों में बैकल झील लगातार ठंडी और सूखी रहती है इस वजह से झील की सतह जम जाती है। यह एक आम घटना हो सकती है पर इसे खास बनाते हैं। वहां हवा में झूलते दिखाई देने वाले जेन पत्थर। हाल ही में साइबेरिया के एक नेचर फोटोग्राफरों द्वारा जेन पत्थरों की एक तस्वीर ली गई थी जिसे "रूस के सर्वश्रेष्ठ" फोटो प्रतियोगिता में पहला स्थान प्राप्त हुआ है, इस तस्वीर को खींचने वाले फोटोग्राफर का कहना है कि "यह प्रकृति के संतुलन का प्रतीक है।" यह एक शांति की भावना को दिखाता है।
जेन पत्थरों की सुंदरता के बावजूद, उनके बनने की प्रक्रिया काफी मायावी बनी हुई है। कई सारी वेबसाइटों और ब्लॉगों ने इसके बारे में बताने कि कोशिश की है, लेकिन वे ज्यादातर अनुमान ही लगा पाएं  हैं। इन पत्थरों के हवा में झूलने की वजह के तौर पर बताया गया है कि सूरज की रोशनी बादलों के कारन लेक पर नहीं गिरती है जिसके बाद वहां पर हवा और गर्मी में कमी आ जाती है। यह आद्रता को खत्म करने में अहम भूमिका निभाती है जिस वजह से पत्थर के नीचे की बर्फ पिघलती नहीं है और पत्थर उस पर टिका रहता है।

कौशांबी: डीएम ने संशोधन के सम्बन्ध में बैठक की

कौशांबी: डीएम ने संशोधन के सम्बन्ध में बैठक की राजकुमार              कौशाम्बी। जिलाधिकारी सुजीत कुमार द्वारा सम्राट उदयन सभागार में राजनैतिक...