सोमवार, 17 मई 2021

इजरायल-फिलिस्तीन संघर्ष, साझा बयान पर रोक

वाशिंगटन डीसी/ जेरूसलम। अमेरिका ने एक हफ्ते में तीसरी बार संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद को इजरायल-फिलिस्तीन संघर्ष पर साझा बयान जारी करने से रोक दिया है। इजरायली मीडिया ने मामले से जुड़े राजनयिकों के हवाले से ये रिपोर्ट छापी है। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की रविवार को हुई आपात बैठक के बाद नॉर्वे, ट्यूनीशिया और चीन ने बयान पेश किया जिसमें दोनों पक्षों से सीजफायर की मांग की गई थी। लेकिन अमेरिका ने इसे जारी नहीं होने दिया। हालांकि, अमेरिकी दूतावास की तरफ से इस मामले पर कोई टिप्पणी नहीं आई है। 

संयुक्त राष्ट्र में अमेरिकी राजदूत लिंडा थॉमस ग्रीनफील्ड ने दलील दी कि अमेरिका कूटनीतिक चैनलों के जरिए इस संघर्ष को खत्म करने के लिए अथक प्रयास कर रहा है। अमेरिकी प्रतिनिधि हैदी आमर शुक्रवार को तेल अवीव पहुंचे हैं और सीजफायर कराने के लिए इजरायली-फिलिस्तीनियों के अधिकारियों से बातचीत कर रहे हैं।

यूके: सरकार ने कोविड कर्फ्यू को 25 मई तक बढ़ाया

पंकज कपूर              

देहरादून। सोमवार को मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत की अध्यक्षता में हुई बैठक में कोरोना वायरस संक्रमण की स्थिति पर विचार के बाद ये फैसला लिया गया। जिसके बाद प्रदेश में अब कोविड कर्फ्यू को 25 मई तक के लिए बढ़ा दिया गया है। सरकार के प्रवक्ता सुबोध उनियाल के अनुसार कुछ नए प्रतिबंधों के साथ कफ्र्यू को आगे बढाया गया है। कर्फ्यू के दौरान परचून की दुकानें अब 21 मई को सुबह सात से 10 बजे तक खुलेंगी। इसके अलावा नई गाइडलाइन में विवाह समारोह में शामिल होने के लिए आरटीपीसीआर की निगेटिव रिपोर्ट अनिवार्य की गई है। बैंक अब सुबह 10 से दो बजे तक खुलेंगे। इसके अलावा अंत्येष्टि में शामिल होने के लिए ई-पास अनिवार्य किया गया है।

संक्रमण: खुले में दिखाईं दें रहीं फेंकी हुई पीपीई किट

अश्वनी उपाध्याय              
गाज़ियाबाद। जिले में आजकल कई जगहों पर खुले में फेंकी हुई पीपीई किट दिखाई दे रहीं हैं। आपको बता दें कि कड़े प्रदूषण नियंत्रण क़ानूनों की वजह से छोटे नर्सिंग होम से लेकर बड़े अस्पतालों ने अपने यहाँ मेडिकल वेस्ट को डिसपोस ऑफ करने के इंतजाम किए हुए हैं। ऐसे में ये किट किसी निजी अस्पताल द्वारा फेंका जाना बहुत मुश्किल है। सरकारी अस्पतालों और प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर स्थिति काफी भिन्न है। सरकारी काम होने के कारण यहाँ लापरवाही होना संभव है। वैसे माना जा रहा है कि लोग कोरोना संक्रमित से मारे गए व्यक्तियों के अंतिम संस्कार के लिए पीपीई किट खरीदते हैं और संस्कार से वापस जाते समय उन्हें ऐसे ही खुले में फेंक देते हैं। बहरहाल, चाहे वजह कुछ भी हो, ये पीपीई किट अब संक्रमण फैलाने का कारण बन सकते हैं।

पूर्व सांसद कपिलमुनि की जमानत अर्जी खारिज की

बृजेश केसरवानी                 

प्रयागराज। पूर्व सांसद कपिलमुनि करवरिया को इलाहाबाद हाईकोर्ट से जमानत नहीं मिली। कोर्ट ने भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के मामले में उनकी अग्रिम जमानत अर्जी खारिज कर दी है। कोर्ट ने कहा कि इस मामले के संबंध में अब तक न तो नियमित जमानत मांगी गई और न ही उसके लिए अर्जी दी गई है। याची इस मामले में न्यायिक हिरासत में है और उस पर बी वारंट का तामीला भी हो चुका है। यदि किसी मामले में कोर्ट से पेरोल के निर्देश का अनुपालन नहीं किया जा रहा है, तो यह संभवतः अग्रिम जमानत देने का आधार नहीं बन सकता।

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने गत 13 मई को बेटी के विवाह के लिए पूर्व सांसद कपिलमुनि करवरिया, पूर्व विधायक उदयभान करवरिया एवं पूर्व एमएलसी सूरजभान करवरिया का पेरोल मंजूर किया था। इस आदेश पर उदयभान करवरिया व सूरजभान करवरिया को नैनी जेल से रिहा कर दिया गया था। लेकिन मंझनपुर थाने के इस मामले में जमानत न होने के कारण कपिलमुनि करवरिया की रिहाई नहीं हो सकी थी।

मंत्रियों के विभागों का फैंसला करेंगें सीएम विजयन

तिरुवनंतपुरम। केरल में पिनराई विजयन के नेतृत्व वाली दूसरी सरकार 20 मई को शपथ ग्रहण करेगी और मंत्रिमंडल में सदस्यों की संख्या 21 होगी। यह जानकारी एलडीएफ के संयोजक एवं माकपा के कार्यवाहक राज्य सचिव ए विजयराघवन ने सोमवार को यहां दी।विजयराघवन ने एलडीएफ की राज्य समिति की बैठक के बाद यहां कहा कि नयी वाम सरकार का शपथ ग्रहण समारोह कोविड​​​​-19 स्थिति को देखते हुए सादगी से होगा जिसमें सीमित संख्या में लोग आमंत्रित होंगे। उन्होंने यह भी कहा कि मंत्रियों के विभागों का फैसला मुख्यमंत्री करेंगे। 

विजयराघवन ने यहां संवाददाताओं से कहा, ”चूंकि एलडीएफ को विधानसभा चुनावों के दौरान लोगों के हर वर्ग से अपार समर्थन मिला है। अत: हम एक ऐसी सरकार बनाना चाहते हैं। जिसमें सभी वर्गों का प्रतिनिधित्व हो और जो सभी की उम्मीदों पर खरा उतर सके।” माकपा नेता ने कहा, ”फिलहाल, 21 सदस्यीय सरकार बनाने का फैसला लिया गया है।”उन्होंने कहा कि एलडीएफ में सबसे बड़े गठबंधन सहयोगी माकपा के नए मंत्रिमंडल में 12 सदस्य होंगे जबकि दूसरी सबसे बड़ी पार्टी भाकपा के 4 सदस्य होंगे। वहीं केरल कांग्रेस (एम), जनता दल (एस) और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) से एक-एक प्रतिनिधि होंगे। उन्होंने कहा कि चूंकि मंत्रिमंडल में 21 से अधिक सदस्य शामिल हो सकते हैं। एलडीएफ ने अपने चार सहयोगियों, जिनके पास एक विधायक हैं, को बारी बारी के आधार पर मंत्री पद साझा करने का फैसला किया है।


मामलों में कमी आने से शेयर बाजारों में जबरदस्त तेजी

कविता गर्ग              

मुंबई। कोविड-19 के नये मामलों में कमी आने से घरेलू शेयर बाजारों में आज जबरदस्त तेजी देखी गई। बीएसई का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 848.18 अंक यानी 1.74 प्रतिशत उछलकर 49,580.73 अंक पर बंद हुआ जो 29 अप्रैल के बाद का उच्चतम स्तर है। नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी 245.35 अंक यानी 1.67 प्रतिशत की बढ़त के साथ एक सप्ताह के उच्चतम स्तर 14,923.15 अंक पर पहुंच गया। गत 30 मार्च के बाद पहली बार बाजार में इतनी बड़ी तेजी रही है। चौतरफा लिवाली के बीच मझौली और छोटी कंपनियों में भी निवेशकों ने जमकर पैसा लगाया। बीएसई का मिडकैप 1.63 प्रतिशत चढ़कर 20,842.20 अंक पर और स्मॉलकैप 1.61 प्रतिशत की मजबूती के साथ 22,558.92 अंक पर बंद हुआ। केंद्र सरकार के आज सुबह जारी आंकड़ों के अनुसार, पिछले 24 घंटे में देश में कोविड-19 संक्रमण के 2.81 लाख नये मामलों की पुष्टि हुई है।

जनता के साथ खड़े होने में विफल रहने का आरोप

अकांशु उपाध्याय             

नई दिल्ली। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने सोमवार को केंद्र सरकार पर कोरोना संकट से निपटने और जनता के साथ खड़े होने में विफल रहने का आरोप लगाते हुए कहा कि मौजूदा समय में बहुत सारे लोग व्यक्तिगत स्तर पर अपनी सेवा के माध्यम से दुनिया को दिखा रहे हैं कि भारत के क्या मायने हैं। उन्होंने ट्वीट किया, ”भारत सरकार न सिर्फ कोविड संकट से निपटने में विफल रही, बल्कि लोगों के साथ खड़े होने में भी नाकाम रही। रोजाना शक्ति और परमार्थ की कई व्यक्तिगत कहानियां सामने आ रही हैं।” राहुल गांधी ने कहा, ”उन नायकों का बहुत आभार है जिन्होंने दूसरों की सेवा के लिए खुद को सपर्पित किया है और दुनिया को यह दिखाया है कि भारत के क्या मायने हैं।”

दिल्ली में कोरोना के कुल मामलें 13.93 लाख हुएं

अकांशु उपाध्याय                

नई दिल्ली। दिल्ली में बीते एक हफ्ते में कोरोना वायरस से 91,500 से ज्यादा मरीज उबरे हैं। जबकि इस अवधि में कोविड-19 के 70,000 नए मामले आए हैं। सरकारी आंकड़ों के मुताबिक, कुल मामले नौ मई को 13.23 लाख से बढ़कर 16 मई को 13.93 लाख हो गए। इस अवधि में संक्रमण से मुक्त होने वाले मरीजों की सख्या 12.17 लाख से बढ़कर 13.09 लाख हो गई। आंकड़ों के अनुसार, आठ मई के बाद से संक्रमण के नए मामलों की तुलना में संक्रमण से मुक्त होने वाले मरीजों की संख्या अधिक रही। दिल्ली में रविवार को 9706 लोग संक्रमण से उबरे जबकि शनिवार को 11,592, शुक्रवार को 14,140, बृहस्पतिवार को 15,189, बुधवार को 14,071, मंगलवार को 13,583 और सोमवार को 13,306 लोगों ने संक्रमण को मात दी।

हापुड़: मुठभेड़ के बाद 4 बदमाशो को गिरफ्तार किया

अतुल त्यागी            
हापुड़। थाना हाफिजपुर क्षेत्र में सिपाही से हुई लूट के मामले में पुलिस की सुबह तड़के बदमाशों से मुठभेड़ हुईं। सर्विलांस टीम की सूचना पर एसओजी टीम-बी व सिम्भावली थानाध्यक्ष राजीव बालियान ने घेराबंदी करते हुए मुठभेड़ के बाद चार बदमाशो को गिरफ्तार किया। दो बदमाशों के पैर में गोली लगीं। गिरफ्तार बदमाशों पर दर्जनों से अधिक अपराधिक मुकदमे दर्ज है। सिपाही से लूटी हुई नकदी व समान सहित तीन तमंचे व कार की बरामद।

पंचायत चुनाव हारने पर जनसेवा को आधार बनाया

सहारनपुर। जीते हुए प्रधान तो सरकार के आदेश पर अपनी-अपनी ग्राम पंचायतों में सैनिटाइजेशन का कार्य करा ही रहे हैं। लेकिन रामपुर ब्लाक के गांव कल्लरपुर गुर्जर में गौरव पंवार एक ऐसे प्रत्याशी हैं जो हार कर भी अपने गांव में सैनिटाइजेशन का कार्य करा रहे हैं। गौरव पंवार की अपने लोगों के प्रति सेवा यही संदेश देती है कि उन्होंने चुनाव में मात्र प्रधान बनने के लिए हिस्सेदारी नहीं की थी बल्कि जनता की सेवा के लिए वह चुनावी मैदान में उतरे थे।

गौरव पंवार का कहना है कि आज समय बहुत कठिन है। लोग कोरोनावायरस महामारी से जूझ रहे हैं। भले ही जनता ने उन्हें प्रधान के रूप में नहीं चुना लेकिन इसके बावजूद अपनी जनता-अपने ग्राम वासियों के प्रति उनका प्यार कम नहीं हुआ है। उन्होंने कहा कि इस आपदा में वह अपने हर ग्रामीण के साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़े हुए हैं और हारने के बावजूद वह 24 घंटे अपने लोगों का जीवन बचाने के लिए जी जान से उनके साथ खड़े हुए हैं।

विपिन चौधरी/संजय चौधरी

तेज हवा व भारी बारिश का अलर्ट जारी: हिमाचल

श्रीराम मौर्य   
शिमला। हिमाचल प्रदेश में एक बार फिर मौसम करवट ले रहा है। मौसम विभाग ने चेतावनी जारी की है आगामी दो दिनों तक मौसम को देखते हुए लोग अनावश्यक अपने घरों से बाहर न निकले। मौसम विभाग ने हिमाचल में भारी और भारी से भारी बारिश, गरज के साथ बिजली गिरने व तेज हवाएं चलने के लिए आॅरेंज अलर्ट जारी किया है। इस दौरान हवाओं की गति 30 से 40 किलोमीटर प्रति घंटे रहने का अनुमान लगाया गया है।लाहुल स्पीति, किन्नौर, चंबा, कुल्लू, मंडी, शिमला व सोलन और सिरमौर के कुछ क्षेत्रों में भारी और भारी से भारी बारिश के लिए आॅरेंज अलर्ट जारी किया गया है। साथ ही यहां पर ओलावृष्टि, गरज के साथ बिजली गिरने के साथ 30 से 40 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चलने की संभावना है। शिमला, मंडी, कुल्लू, चंबा के सिहुंता, चुवाड़ी, चंबा शहर, सोलन, सिरमौर, ऊना, बिलासपुर, हमीरपुर, कांगड़ा में 18 और 21 मई के लिए येलो अलर्ट जारी किया है। यह दो दिन उक्त क्षेत्रों की अलग अलग जगहों पर गरज के साथ बिजली गिरने की संभावना है।
उपायुक्त ऋग्वेद ठाकुर ने बताया कि मौसम विज्ञान केंद्र शिमला द्वारा 19 व 20 मई, 2021 को मंडी जिले के कई स्थानों पर भारी वर्षा की चेतावनी जारी की है । उन्होंने भारी बारिश की चेतावनी को ध्यान में रखते सभी नागरिकों से नदी-नालों के किनारे न जाने व भूस्खलन संभावित क्षेत्रों तथा अधिक उंचाई और निम्न तापमान वाले इलाकों में जाने से बचने का आग्रह किया है। उन्होंने लोगों से अपील की कि खराब मौसम में अनावश्यक तौर पर घरों से न निकलें, सुरक्षित स्थानों पर रहें और किसी प्रकार का जोखिम न उठाएं ।उन्होंने समस्त पंचायत प्रधानों, गैर सरकारी संगठनों एवं नागरिकों से भी अनुरोध किया है कि वे इस बारे अधिक से अधिक लोगों तक इस संदेश को पहुंचाएं ताकि किसी भी प्रकार की अप्रिय घटना से बचा जा सके । उपायुक्त ने बताया कि किसी भी प्रकार की प्राकृतिक आपदा/घटना की स्थिति में तत्काल जिला आपदा प्रबंधन परिचालन केंद्र के दूरभाष नम्बर 01905-226201, 202, 203, 204 अथवा टोल फ्री 1077 नम्बर पर सूचित करें।

हिमाचल: 2,392 नए मामले, 4,974 मरीज ठीक

श्रीराम मौर्य   
शिमला। हिमाचल प्रदेश में लगातार कोरोना का संक्रमण बढ़ता जा रहा है। हिमाचल में आज 2,392 नए मामले आए हैं। वहीं, 4,974 कोरोना पॉजिटिव ठीक हुए हैं। आज रिकॉर्ड 70 लोगों की जान गई है। हिमाचल में कुल आंकड़ा एक लाख 60 हजार 254 पहुंच गया है। अभी 36 हजार 923 एक्टिव केस हैं। अब तक एक लाख 20 हजार 990 ठीक हुए हैं। कोरोना डेथ का आंकड़ा 2,311 है। कांगड़ा जिले में कोरोना से 30 मौतें और 801 मामले आए हैं। बिलासपुर में दो महिलाओं की मौत हुई है जबकि 26 बच्चों समेत कोरोना के 113 नए मामले सामने आए हैं। कुल्लू में कोरोना से दो की मौत और 80 नए मामले आए हैं। लाहौल-स्पीति में एक मौत और 23 नए पॉजिटिव पाए गए हैं। हमीरपुर में 4 की मौत और 145 नए मामले सामने आए हैं। सिरमौर में 10 मामले आए हैं।
चंबा में 1 मौत और 181 नए पॉजिटिव पाए गए हैं। ऊना में 4 की मौत और 150 नए पॉजिटिव पाए गए हैं। सोलन में 6 की मौत और 333 नए मामले सामने आए हैं। शिमला में 12 की मौत और 133 नए मामले सामने आए हैं। प्रदेश में अब कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 160240 पहुंच गया है। सक्रिय मामले 36909 हैं जबकि बीते 24 घंटों में रिकॉर्ड 4974 संक्रमित ठीक हुए हैं। कांगड़ा में 1643, मंडी में 680, शिमला में 560 और सोलन में 505 संक्रमितों ने कोरोना को मात दी। 
चंबा: उपायुक्त चंबा डीसी राणा ने  जानकारी देते हुए बताया कि कोविड के मामलों की वृद्धि को ध्यान में रखते  हुए  पूर्वोक्त आदेश द्वारा लगाए गए कोरोना कर्फ्यू को 26 मई 2021 को सुबह 6 बजे तक बढ़ाया गया है। उन्होंने बताया कि  “कोरोना कर्फ्यू” 17 मई 2021 की सुबह 6 बजे से 26 मई 2021 को सुबह 6 बजे तक रहेगा।  उपयुक्त चंबा डीसी राणा ने इस संबंध में आदेश जारी करते हुए कहा कि विवाह में अधिकतम 20 व्यक्तियों की उपस्थिति पर लगाए गए प्रतिबंध जारी रहेंगे। विवाह के प्रयोजन के लिए किसी भी सामुदायिक भवन या टेंट का उपयोग नहीं किया जाएगा  तथा किसी भी बाहरी खानपान और डीजे -बैंड का उपयोग भी  नहीं किया जाएगा और बारात  की अनुमति भी नहीं होगी।

सीएम ने हालात की समीक्षा की, दिशा-निर्देश दिए

भानु प्रताप उपाध्याय   
मुजफ्फरनगर। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज मुजफ्फरनगर पहुंचकर जिले में कोरोना के हालात की समीक्षा की तथा अधिकारियों को उचित दिशा निर्देश दिए। सीएम योगी ने जिले के गांव रामपुर का निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होने कोरोना वायरस संक्रमण में जुटी रेपिड रेस्पांस टीम की सदस्य आशा कार्यकत्रियों से वार्ता की। मीडिया से बातचीत में सीएम योगी ने कहा कि कोरोना की दूसरी लहर का यूपी ने पूरी तैयारी के साथ सामना किया। प्रदेश सरकार कोरोना की तीसरी लहर से निपटने की तैयारी में जुटी है। इस दौरान मुख्यमंत्री ने जनपद मुजफ्फरनगर को एक बडी सौगात देने का ऐलान किया, जिसका जिले के लोग पिछले काफी दिनों से इंतजार कर रहे थे। 
सोमवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ कलक्ट्रेट में नवनिर्मित कोविड-19 कमांड एवं कंट्रोल का जायजा लेने पहुंचे। पूर्व निर्धारित कार्यक्रम अनुसार उनका हेलीकाप्टर पुलिस लाइन स्थित हेलीपैड पर सुबह 11.10 मिनट पर उतरा। केंद्रीय राज्यमंत्री डा. संजीव बालियान, राज्यमंत्री स्वतंत्र प्रभार कपिल देव तथा चार विधायकों ने उनका स्वागत किया। कोविड-19 कमांड एवं कंट्रोल सेंटर का निरीक्षण कर मुख्यमंत्री ने केंद्रीय राज्यमंत्री डा. संजीव बालियान, राज्यमंत्री कपिल देव अग्रवाल सहित विधायकों तथा डीएम व एसएसपी सहित पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों संग बैठक की।
मीडिया को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि कोरोन महामारी के विरुद्ध प्रधानमंत्री के नेतृत्व में लड़ाई जारी है। आबादी के हिसाब से उत्तर प्रदेश देश का सबसे बड़ा राज्य है। लेकिन प्रदेश ने पूरी तैयारी के साथ कोरोना वायरस संक्रमण की दूसरी लहर का सामना किया। अप्रैल माह में कोरोना के प्रदेश में जहां एक लाख से अधिक केस आ रहे थे। वहीं उस पर पूरी तरह से अंकुश लगाते हुए कमी लाई गई। कहा कि 30 अप्रैल तक उत्‍तर प्रदेश में तीन लाख पाजिटिव केस मिले, लेकिन अब पाजिटिविटी में काफी गिरावट आ गई है।सीएम ने कहा कि प्रदेश में कोरोना के सर्वाधिक टेस्ट हुए हैं और रिकवरी रेट भी 90 प्रतिशत पर पहुंच गया है। 18 प्लस के चार लाख से अधिक युवाओं को वैक्सीन लग चुकी है। मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना की दूसरी लहर में आक्सीजन तथा रेमडेसिविर के लिए लोगों में होड़ लग गई थी। आपदा के समय धैर्य हमारा मित्र होता है।

उन्होंने कहा कि जब जनता के लोगों का मनोबल बढाना चाहिए था उस समय कुछ लोगों ने भ्रांति फैलाने का काम किया। उन्होंने कहा कि एक समय अव्यवस्था की स्थिति बनी लेकिन उस पर पूरी तरह से कंट्रोल कर लिया गया। उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस संकमण की दूसरी लहर पर काबू करने की तैयारी पूरी की जा रही है। सभी आवश्यक कार्यवाही कर ली गई हैं। 

मेरठ: महामारी नियंत्रण का मंडलीय निरीक्षण किया

मोमीन अहमद   

मेरठ। मुख्यमंत्री आदित्यनाथ ने आयुक्त सभागार मंे कोरोना महामारी नियंत्रण के कार्यांे की मण्डलीय समीक्षा करते हुये कहा कि टेस्ट, ट्रेस व ट्रीट को ध्यान में रखकर कार्य करें। टीम-9 की तर्ज पर हर जिले में टीमें गठित हो। प्रत्येक कोविड अस्पताल की माॅनिटरिंग सीसीटीवी कैमरो के माध्यम से की जाये। जनप्रतिनिधियों को सत्यापन के लिए कोराना मरीजो, होम आईसोलेट व्यक्तियों व सेनेटाईजेषन, फागिंग कार्यों की सूची उपलब्ध कराये। उन्होने कहा कि जनता के प्रति संवेदना दिखाने का व उनका मनोबल बढाने का समय है। प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के अंतर्गत 15 करोड लोगो को तीन माह तक मुफ्त राषन उपलब्ध कराया जायेगा। उन्होने कहा कि कम्युनिटी किचन की व्यवस्था की जाये, प्रदेष में कोई भी भूखा नहीं रहना चाहिए। आदित्यनाथ जी ने कहा कि वह प्रदेष के विभिन्न जनपदों में जाकर कोरोना नियंत्रण की तैयारियों की समीक्षा स्वयं कर रहे है यह उनकी नवीं कमिष्नरी में बैठक है। उन्होने कहा कि टेस्टिंग को बढाना होगा। उन्होने कहा कि वर्तमान स्थिति में दोहरी चुनौतियां है लेकिन अधिकारियों को जागरूक रहकर कार्य करना होगा। उन्होने कहा कि आरटीपीसीआर एवं एंटीजन को दोगुना करना होगा। उन्होने कहा कि गत एक सप्ताह में 20 हजार से ज्यादा एक्टिव केस कम हुये है तथा बेडो की संख्या में बढोत्तरी हुयी है।

उन्होने कहा कि प्रदेष में आॅक्सीजन प्लांट बढाये जाने पर भी कार्य किया जा रहा है। उन्होने कहा कि कोरोना की पहली लहर में अक्टूबर-नवंबर में 01 लाख कोरोना मरीजो के होने की आषंका व्यक्त की गयी थी लेकिन परस्पर टीमवर्क के साथ कार्य करते हुये इसको अपेक्षाकृत काफी कम ही रोकने में उप्र सफल रहा है। उन्होने कहा कि हर जिले में अलग-अलग कार्यों के लिए अलग-अलग टीमे गठित हो तथा टीम-9 की तर्ज पर हर जिले में टीमें गठित हो। उन्होने कहा कि हमें भविष्य की चिन्ता करनी है, कार्यों का विकेन्द्रीकरण करना है तथा अलग-अलग कार्यों को अलग-अलग टीम के माध्यम से कराना है और उनको जिम्मेदारी निर्धारित करनी है। उन्होने कहा कि पुलिस भी अलग-अलग जिम्मेदारियों का वहन सुनियोजित ढग से करें। उन्होने कहा कि प्रत्येक कोविड अस्पताल में सीसीटीवी कैमरे लगे हो तथा प्रत्येक अस्पताल की माॅनिटरिंेग उन सीसीटीवी कैमरो के माध्यम से की जाये तथा प्रत्येक अस्पताल में यह देखा जाये कि वहां समय पर भोजन व दवा मरीजो को उपलब्ध है अथवा नहीं, साफ सफाई की व्यवस्था, टीकाकरण व अन्य सुविधाओं की व्यवस्थाओं को भी जांचा जाये। उन्होने कहा कि प्रत्येक जिले के जिलाधिकारी व मुख्य चिकित्सा अधिकारी एक बैठक एकीकृत कमाण्ड कंट्रोल सेन्टर में करें तथा एक बैठक किसी कोविड अस्पताल में करे। उन्होने कहा कि इससे चीजो के नियंत्रण में सफलता मिलेगी।

उन्होने कहा कि बेड की संख्या बढानी पडेगी। उन्होने कहा कि कोविड अस्पताल में लगे स्वास्थ्य कर्मियों के 25 प्रतिषत मानदेय बढाने के निर्देष दिये गये है। उन्होने कहा कि होम आईसोलेषन में रह रहे मरीज को मेडिकल किट उपलब्ध करायी जाये तथा उसके निरंतर संपर्क में रहा जाये। उन्होने कहा कि निगरानी समितियां स्क्रीनिंग का कार्य करें तथा बिना देर किये मरीज को मेडिकल किट उपलब्ध कराये। उन्होने कहा कि निगरानी समितियां मरीजो की सूची प्रत्येक दिन आईसीसीसी को उपलब्ध कराये तथा आईसीसीसी उसका सत्यापन करें।

उन्होने कहा कोरोना मरीजो की सूची जनप्रतिनिधियों को भी उपलब्ध करायी जाये ताकि वह भी उनकी कुषल-क्षेम व उनको दी जा रही सुविधाओं की जानकारी ले सके और यदि मरीज को कोई परेषानी है तो उसका निस्तारण भी करा सके। मुख्यमंत्री ने कहा कि होम आईसोलेषन में रह रहे व्यक्तियों की विधानसभावार सूची जनप्रतिनिधियों को उपलब्ध करायी जाये ताकि वह भी उनसे अपने कार्यालय के माध्यम से काॅल कराकर फीडबैक ले सके। उन्होने कहा कि ग्रामों व शहरो में सघन सेनेटाईजेषन के कार्य कराये जायें तथा इसके लिए मा0 जनप्रतिनिधियों को जिन गांवो में व शहर के विभिन्न स्थानों पर सेनेटाईजेषन व फांिगंग आदि का कार्य कराया जाना है इसकी सूची उपलब्ध करायी जाये ताकि वह भी अपने स्तर से इसका सत्यापन कर सके।

उन्होने कहा कि रैपिड रेस्पान्स टीम (आरआरटी) की संख्या दुगुना व तिगुना की जाये। उन्होने कहा कि अंतिम संस्कार के लिए पैसे की किल्लत नहीं होनी चाहिए, प्रषासन को पैसे की किल्लत होेने पर या अन्य कारणो से मरीज का अंतिम संस्कार न होने के कारण बिना देरी किये कोरोना से मृत व्यक्ति का अंतिम संस्कार उसकी परंपरा व आस्था के अनुरूप कराया जाये।

उन्होने कहा कि जनता के प्रति संवेदना दिखाने का समय है उनका मनोबल बढाने का समय है। उन्होने कहा कि प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के अंतर्गत 15 करोड लोगो को तीन माह तक मुफ्त राषन उपलब्ध कराया जायेगा। उन्होने कहा कि अगर किसी जरूरतमंद का कार्ड नहीं बना है तो उसकी जांच कर 24 घंटे में कार्ड बनाते हुये उसको मुफ्त राषन अवष्य उपलब्ध कराया जाये। जनप्रतिनिधियों की संस्तुति पर भी त्वरित कार्यवाही की जाये। उन्होने कहा कि प्रदेष सरकार ने ठेला-खोमचा आदि लगाने वालो व अन्य के लिए रू0 01 हजार भरण-पोषण भत्ता देने का निर्णय लिया है। उन्होने कहा कि कम्युनिटी किचन की व्यवस्था की जाये तथा इसके माध्यम से मरीज के परिजन व अन्य जरूरतमंदो को दो वक्त का भोजन उपलब्ध कराया जाये। उन्होने कहा कि प्रदेष में कोई भी भूखा नहीं रहना चाहिए। उन्होने कहा कि कंटेनमेंट जोन में सख्ती की जाये तथा वहां डोर स्टेप डिलीवरी की व्यवस्था की जाये। औद्योगिक इकाईयो के लिए भी सप्लाई चेन की व्यवस्था व राॅ मैटिरियल के लिए भी मदद की जाये।

उन्होने कहा कि मंडल में टीकाकरण की प्रगति अच्छी है। उन्होनें कहा कि 45 वर्ष से ऊपर के व्यक्तियों के लिए भारत सरकार व 18 से 44 वर्ष तक के व्यक्तियों के लिए उ0प्र0 सरकार मुफ्त में टीका उपलब्ध करा रही है। उन्होने कहा कि सरकारी अस्पतालों में टेस्टिंग, इलाज व अन्य सुविधाएं निःषुल्क है। उन्होने कहा कि टीकाकरण पर ध्यान दिया जाये तथा काॅल सेन्टर के माध्यम से टीकाकरण के लिए एक से दो घंटे का स्लाॅट व्यक्तियों को आवंटित किया जाये ताकि उन्हें लाईन में ज्यादा देर के लिए खडा न होना पडे और सुगमता से उनका टीकाकरण हो जाये।

उन्होने कहा कि यह मानवता की सेवा है इसलिए पूरी प्लानिंग व गंभीरता से कार्य करे। उन्होने कहा कि महामारी से लड रहे है इसलिए अपना मनोबल व सबल ऊंचा रखें। उन्होने कहा कि सावधानी व सतर्कता बनाये रखने की आवष्यकता है, सभी टीमवर्क के साथ कार्य करे, हर जिले में महिलाओं व बच्चो के लिए डेडिकेटेड कोविड अस्पताल हो यह सुनिष्चित किया जाये। उन्होने कहा कि अगर कोरोना मरीज को डायलेसिस की आवष्यकता है तो उसे वह सुविधा उपलब्ध करायी जाये।

उन्होने कहा कि जो निजी अस्पताल ओवरचार्ज करते है उनको चिन्हित कर उनके विरूद्ध कार्यवाही की जाये। उन्होने कहा कि जनप्रतिनिधियो के साथ बेहतर संवाद रखे तथा सप्ताह में एक बार उनके साथ जिलाधिकारी व मुख्य चिकित्सा अधिकारी वर्चुअल संवाद जरूर करें। उन्होने कहा कि रिकवरी रेट बढेगा और पाजिटीव रेट कम होगा। मा0 मुख्यमंत्री जी ने कहा कि मेडिकल कालेज में आरटीपीसीआर जांच की सुविधा को दुगुना करने के निर्देष दिये गये है।

जनप्रतिनिधियो ने अपने अनुभव व सुझाव मुख्यमंत्री के समक्ष साझा किये। सांसद श्री राजेन्द्र अग्रवाल ने कहा कि एलएलआरएम मेडिकल कालेज में 1200 बेड की क्षमता है वह अपनी पूर्ण क्षमता के साथ संचालित हो तथा नाॅन कोविड यूनिट को कोविड यूनिट में बदलने पर विचार करें। उन्होने कहा कि डीआरडीओ 200 बेड का अस्पताल मेरठ में स्थापित करें तो इससे मेरठ व आसपास के जनपद के लोगो को सुविधा होगी।

सांसद विजय पाल सिंह तोमर ने कहा कि मेडिकल कालेज में आॅक्सीजन प्लांट स्थापित हो तथा प्रधानो से भी वर्चुअल संवाद किया जाये। मा0 संासद श्रीमती कांता कर्दम ने कहा कि महिलाओं व बच्चो के लिए अलग से कोविड अस्पताल बनाया जाये। मा0 संासद बागपत श्री सत्यपाल सिंह ने कहा कि मा0 मुख्यमंत्री जी के नेतृत्व में कोरोना नियंत्रण में प्रदेष में अच्छा कार्य हुआ है।

मा0 विधायक श्री सोमेन्द्र तोमर ने कहा कि मेडिकल कालेज में सुधार हो तथा निजी अस्पतालो पर ठीक माॅनिटरिंग व सख्ती हो। मा0 विधायक श्री दिनेष खटीक ने कहा कि निगरानी समितियों के माध्यम से कोरोना नियंत्रण में मदद मिली है। मा0 विधायक श्री सत्यवीर त्यागी ने कहा कि उन्होने बूथ अध्यक्ष को आॅक्सीमीटर व डिजिटल थर्मामीटर उपलब्ध कराया है। मा0 विधायक श्री जितेन्द्र सिंह ने कहा कि कोरोना नियंत्रण में अच्छा कार्य हुआ है ग्रामीण क्षेत्र में विषेष ध्यान देने की आवष्यकता है।

मा0 विधायक श्री सत्य प्रकाष अग्रवाल ने कहा कि अच्छा कार्य हुआ है अभी और सजगता व सतर्कता की आवष्यकता है। मा0 एमएलसी श्रीमती सरोजिनी अग्रवाल ने कहा कि आॅक्सीजन की किल्लत कम हुई है। उन्होने कहा कि हर जिले में आरटीपीसीआर टेस्टिंग की सुविधा होनी चाहिए। मा0 एमएलसी अश्वनी त्यागी ने एल-3 अस्पताल बढाये जाने के लिए कहा।

आयुक्त मेरठ मंडल श्री सुरेन्द्र सिंह ने मंडल की प्रगति आख्या रखते हुये कहा कि आक्सीजन की किसी अस्पताल में कमी नहीं है। मंडल में 479 आॅक्सीजन कंसन्टेªटर है, 95 गत सप्ताह बढाये गये है, 400 और जल्द मिलने की संभावना है। उन्होने बताया कि मंडल में 1309 रैपिड रेस्पान्स टीम कार्यरत है, जिसमें 514 शहरी क्षेत्र में व 795 ग्रामीण क्षेत्रो में कार्यरत है। उन्होने कहा कि मंडल में 10 आॅक्सीजन प्लांट है जिसमें से 04 मेरठ में है। उन्होने कहा कि 35 नये प्रस्ताव आये है, जिसमें से 13 पर वर्कआर्डर जारी किया गया है और 03 क्रियाषील हो गये है। उन्होने बताया कि मंडल में 3937 निगरानी समितियां है, मंडल में 4258 कंटेनमेंट जोन है तथा 13057 रेमडेसिवर इंजेक्षन उपलब्ध है। उन्होने कहा कि आॅक्सीजन सिलेण्डर की दर रू0 400 निर्धारित की गयी है तथा इसकी सप्लाई को विकेन्द्रीकृत किया जा रहा है।

घटिया वेंटिलेटरों पर केंद्र सरकार को आड़े हाथों

अकांंशु उपाध्याय   

नई दिल्ली। कोरोना वायरस की दूसरी लहर भारत के लिए किसी अभिशाप की तरह दिखाई पड़ रही है। वहीं अस्पतालों में बेड से लेकर, ऑक्सीजन सिंलेंडर की कमी भी बड़ी मुसीबत बनी हुई है। ऐसे में सरकार को भी काफी आलोचनाओं का सामना करना पड़ रहा है।

इस बीच पीएम केयर फंड के तहत राज्यों को वेंटिलेटर्स दिए गए थे, लेकिन जारी किए गए वेंटिलेटर्स में गड़बड़ियां थीं। इसी को लेकर अब कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला बोला हैराहुल ने पीएम केयर फंड से दिए गए इन वेंटिलेटरों को लेकर केंद्र सरकार को आड़े हाथों लिया है। राहुल गांधी ने सोमवार को एक ट्वीट करते हुए कर लिखा- ‘पीएम केयर के वेंटिलेटरों और पीएम के बीच काफी समानताएं हैं। दोनों का बहुत ज्यादा झूठा प्रचार, अपना काम करने में पूरी तरह से फेल और जरूरत के वक्त दोनों को ढूंढना मुश्किल।’

गौरतलब है देश के कई राज्यों में पीएम केयर फंड के तहत मिले वेंटिलेटरों के खराब होने का मामला खूब चर्चा में आया था। इन गड़बड़ी वाले वेंटिलेटरों को लेकर अस्पताल प्रशासन से लेकर डॉक्टरों ने भी हाथ खड़े कर दिए हैं। बताया जा रहा है कि पीएम केयर फंड से मिले वेंटिलेटर पूरी तरह से बेकार हैं, उनमें ना तो ऑक्सीजन का फ्लो आता है और ना ही न प्रेशर बनता है, यहां तक की वो चलते-चलते बंद भी हो जाता है।

कढ़ाई: बढ़ी ब्लैक फंगस की दवा की कालाबाजारी

सत्येंद्र ठाकुर   

नई दिल्ली। कोरोना संक्रमित और रिकवर रोगियों में अचानक से बढ़े ब्लैक फंगस के मामलों ने एक बार फिर मुश्किलें पैदा कर दी हैं। राजधानी के अलग अलग अस्पतालों में भर्ती इन मरीजों के लिए अम्फोटेरीसीन बी नामक इंजेक्शन बाजार से गायब हो चुका है। एक इंजेक्शन की कीमत 12 हजार रुपये तक ली जा रही है, जिसकी वजह से इसकी कालाबाजारी भी पिछले तीन दिन में काफी बढ़ गई है। पहले रेमडेसिविर और ऑक्सीजन की कालाबाजारी के बाद अब अम्फोटेरीसीन बी इंजेक्शन के लिए लोगों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

दरअसल राजधानी के तीन अस्पताल एम्स, लेडी हार्डिंग मेडिकल कॉलेज और सर गंगाराम अस्पताल को मिलाकर 100 से ज्यादा मरीज उपचाराधीन हैं। अमर उजाला को मिली शिकायत के बाद जब भागीरथी पैलेस, चांदनी चौक के अलावा बड़े दवा दुकानदारों के पास जाकर पड़ताल की गई तो पता चला कि वाकई में यह इंजेक्शन बाजार से गायब हो चुका है। दुकानदारों ने कहा कि पिछले दो-तीन दिन में इस इंजेक्शन की कालाबाजारी काफी बढ़ गई है।

भयानक और विकराल रूप दिखा सकता है वायरस

अकांशु उपाध्याय  

जेनेवा। वाकई इसमें तो कोई दोराय नहीं हैं कि भारत पर कोरोना एक भयानक कहर बनकर टूट रहा है। कोरोना का यह दूसरा दौर अबतक न जाने कितने लोगों को मौत की नींद सुला चुका है और इसका यह सिलसिला अभी थमने को राजी नहीं है। कोरोना लोगों को लगातार अपनी चपेट में लेता जा रहा है। वहीं, भारत में कोरोना से जो हालात पैदा हो रहे हैं उनपर विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) लगातार चिंता जता रहा है। कोरोना से भारत के हालातों पर बेहद चिंतित है और समय-समय पर चेताने का काम कर रहा है। इधर, अब एक बार फिर डब्ल्यूएचओ ने भारत को लेकर गंभीर चिंता व्यक्त की है।

डब्ल्यूएचओ प्रमुख ने कहा कि देखा जा रहा है कि भारत में किस कदर लोग जल्दी और ज्यादा संख्या में कोरोना की चपेट में आ रहे हैं और यहां कोरोना से बहुत ज्यादा मौतें हो चुकी हैं और हो रही हैं। भारत की यह स्थिति बहुत चिंताजनक बनी हुई है। प्रमुख ने चेतावनी देते हुए कहा कि पिछले साल के मुकाबले कोरोना इस साल अपना बहुत विकराल रूप दिखा सकता है। कोरोना का दूसरा साल बहुत ज्यादा घातक साबित हो सकता है। उन्होंने कहा कि भारत के साथ-साथ अन्य देशों को बड़े स्तर पर जल्द से जल्द संभलना होगा।

प्रमुख ने कहा- भारत की मदद हो रही है….

डब्ल्यूएचओ प्रमुख ने कहा कि कोरोना के इस समय में भारत को पूरी मदद दी जा रही है। भारत को चिकित्सा सामग्री की आपूर्ति में कोई कमी नहीं आने दी जा रही है। हम भारत की मदद के इस क्रम में सभी साझेदारों को भी धन्यवाद देते हैं।

लॉन्चिंग के महज 3 मिनट बाद मिशन विफल हुआ

दुष्यंत सिंह टीकम   
पेनिनसुला/नई दिल्ली। दो कमर्शियल सेटेलाइट को अंतरिक्ष में ले जाने की कोशिश में जुटे रॉकेट लैब इलेक्ट्रॉन बूस्टर शनिवार को फेल हो गया। लॉन्चिंग के महज 3 मिनट बाद ही कुछ तकनीकी गड़बड़ियों की वजह से यह मिशन विफल हो गया। न्यूजीलैंड के माहिया पेनिनसुला में रॉकेट लैब्स लॉन्च कॉम्पलेक्स 1 से इसे लॉन्च किया गया था। मगर तीन मिनट से भी कम समय में इलेक्ट्रॉन के दूसरे चरण में अलग होने के समय यह लॉन्च फेल हो गया। कंपनी ब्लैकस्काई की पृथ्वी का अवलोकन करने वाली दो सेटेलाइट्स के लिए उड़ान का प्रबंध स्पेसफ्लाइट ने किया था। मगर महज कुछ मिनटों में ही ये दोनों सेटेलाइट नष्ट हो गईं। रॉकेट लैब ने ट्विटर पर एक बयान जारी कर कहा, ‘आज के लॉन्च के दौरान कुछ समस्या आई, जिसकी वजह से मिशन विफल हो गया। हमें अपने ग्राहकों ब्लैकस्काई और स्पेसफ्लाइट के नुकसान के लिए खेद है। यह समस्या दूसरे चरण की शुरुआत से पहले हुई।

कैमरे में कैद घटना

इलेक्ट्रॉन की ऊपरी ओर कैमरा लगा था, जो यह दिखाता है कि लॉन्च के 2 मिनट 35 मिनट के बाद ही अलग हो गया। इसके बाद वह एक दिशा की ओर जाने लगा और फिर नष्ट हो गया। रॉकेट लैब ने रॉकेट से अलग होने के चार मिनट के बाद ही सेटेलाइट के नष्ट होने की पुष्टि की है।

पिछले साल भी हुआ था मिशन फेल

पिछले साल जुलाई में भी कंपनी का मिशन फेल हो गया था। बाद में कंपनी ने ट्रेस किया कि एक खराब इलेक्ट्रिकल कनेक्शन की वजह से यह मिशन विफल हुआ। रॉकेट लैब ने 2017 में पहला मिशन लॉन्च किया था। उस समय भी तकनीकी गड़बड़ियों की वजह से सेटेलाइट कक्षा में पहुंचने में विफल रही थी। हालांकि रॉकेट लैब 18 सफल मिशन को अंजाम दे चुका है। रॉकेट लैब ने 58 फीट ऊंचे इलेक्ट्रॉन बूस्टर को एक घंटे की देरी के बाद लॉन्च किया था। हालांकि उस समय तेज हवा चल रही थी. यह कंपनी का 20वां मिशन था।

सड़क दुर्घटना में 5 लोगों की मौत हुईं, 1 गंभीर

प्रशांत कुमार   

झांसी। कोरोना वायरस संक्रमण के सेकेंड स्ट्रेन तथा कोरोना कर्फ्यू के दौरान भी सड़क पर दौड़ते वाहनों की रफ्तार पर नियंत्रण नहीं हो पा रहा है। इसी प्रकार के दुस्साहस के कारण ही झांसी में पांच लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी है। जबकि एक की हालत बेहद गंभीर है।

झांसी के गुरसहाय के एरच क्षेत्र में रविवार रात दर्दनाक सड़क हादसा हो गया। यहां पर तेज रफ्तार कार की दो बाइक से आमने.सामने भिड़ंत हो गई। जिसमें एक बच्चे समेत चार लोगों ने दम तोड़ दिया। जबकि गंभीर रूप से घायल एक की सोमवार को झांसी के मेडिकल कॉलेज में मौत हो गई। बाइक सवार तीन लोगों के साथ ही कार चालक ने मौके पर ही दम तोड़ दिया। इस दुर्घटना में गंभीर रूप से घायलों दो लोगों का इलाज चल रहा था। इनमें से एक ने आज दम तोड़ दिया है। अन्य का मेडिकल कॉलेज में इलाज चल रहा है।

झांसी के गुरसराय थाना क्षेत्र के ग्राम फरीदा के पास कार सवार युवक ने दो मोटरसाइकिल सवारों को जोरदार टक्कर मार दी। इसके बाद अनियंत्रित होकर कार सड़क किनारे खाई में जाकर पेड़ से टकरा गई। हादसे में मौके पर ही मोटरसाइकिल सवार तीन लोगों की मौत हो गई। सूचना मिलने पर मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। गुरसराय से एरच की तरफ तेज गति से जा रहे कार ने ग्राम फरीदा से पहले एक मोटरसाइकिल को जोरदार टक्कर मार दी। जिससे मोटरसाइकिल सवार सुरेंद्र कुमार ;18द्ध वर्ष निवासी महाराजगंज ढेरी थाना पूंछ व बिल्ले पुत्र ओमप्रकाश निवासी भदरवारा थाना गरौठाए ओम प्रकाश पुत्र कधूरे निवासी भदरवारा थाना गरौठा गंभीर रूप से घायल हो गए। इसके बाद तेज गति से कार चालक ने आगे जाकर एक अन्य मोटरसाइकिल में टक्कर मार दी। इसके बाद कार अनियंत्रित होकर खाई में जाकर एक पेड़ से टकरा गई।

ऑक्सीजन प्राप्त करने में हर समस्या का समाधान

हरिओम उपाध्याय               

लखनऊ। होम आइसोलेशन में रह रहे मरीजों को ऑक्सीजन गैस की आपूर्ति में आ रहीं समस्याओं का संज्ञान लेकर मंडलायुक्त रंजन कुमार ने होम आइसोलेशन के मरीजो को आसानी से ऑक्सीजन आपूर्ति उपलब्ध कराने के लिए शासन द्वारा मण्डल के जनपदों में सेंटर निर्धारित कर नोडल अधिकारी नामित किये हैं। होम आइसोलेशन में रह रहे मरीजों के परिजन अपने जनपदों में निर्धारित सेंटरों से ऑक्सीजन गैस प्राप्त कर सकते हैं। ऑक्सीजन गैस प्राप्त करने में आ रही किसी भी समस्या के समाधान के लिए नोडल अधिकारी से संपर्क कर अपनी समस्या का समाधान करा सकते हैं।

1- मैसर्स मुरारी गैस प्राइवेट लिमिटेड, स्कूटर इंडिया, नादरगंज, सरोजनीनगर (नोडल अधिकारी- अपर नगर मजिस्ट्रेट देवेन्द्र कुमार, मो-9454416496)
2-मैसर्स परेरहट इंडस्ट्रीयल इंटर प्राइजेज प्रा0लि0, सरोजनीनगर (नोडल अधिकारी, तहसीलदार, उमेश कुमार सिंह, मो0-9454416503)
3- मैसर्स स्टार गैस, पंडित खेड़ा, नियर जयपुरिया स्कूल, कानपुर रोड़, थाना कृष्णा नगर (नोडल अधिकारी, तहसीलदार मीनाक्षी द्विवेदी, मो0-8115614018)
4-मैसर्स अवध ऑक्सीजन प्रा0लि0, धरमवीर मार्ग, इंड्रस्ट्रीयल एरिया, ताल कटोरा( नोडल अधिकारी, तहसीलदार- रामजीत, मो0-9919202021)
5-मैसर्स आर0के. ऑक्सीजन, कमलाबाद बड़ौली, छठा मील चौराहा, बक्शी का तालाब (नोडल अधिकारी, उपजिलाधिकारी-डॉ. शुभी, मो0-9454416498)।

बाबा केदारनाथ मंदिर के कपाट खोल दिएं: सीएम

पंकज कपूर           

रुद्रप्रयाग। आज वैशाख माह शुक्ल पक्ष की पञ्चमी तिथि के शुभ मुहूर्त मै भगवान केदारनाथ धाम के कपाट ग्रीष्मकाल के लिए खोल दिए गए। इसके बाद अगले छह महीने तक बाबा केदार की पूजा-अर्चना केदारनाथ धाम में ही होगी। केदारनाथ धाम के कपाट खुलने के समय पूजा में पुजारी समेत सिर्फ 16 लोग ही शामिल हुए। इसके साथ ही सोशल डिस्टेंसिंग का भी ध्यान रखा गया। तड़के 3:15 बजे से मंदिर में विशेष पूजा-अर्चना हुई। मुख्य पुजारी द्वारा बाबा की समाधि पूजा के साथ अन्य सभी धार्मिक औपचारिकताएं पूरी की गईं। इसके बाद तय समय पर सुबह 5 बजे बाबा केदारनाथ मंदिर के कपाट खोल दिए गए। मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने भगवान केदारनाथ के कपाट खोले जाने पर सभी श्रद्धालुओं को बधाई देते हुए कहा कि बाबा केदार हम सभी पर अपनी कृपा बनाकर रखें। बाबा केदार के आशीर्वाद से हम कोरोना की इस वैश्विक महामारी को हराने में अवश्य कामयाब होंगे। कोरोना के कारण इस बार आम जन दर्शन के लिये नहीं आ सके। हम सभी के मन में बाबा केदार के लिए अपार श्रद्धा है। बाबा केदार, अपने भक्तों पर स्नेह बनाये रखें, यही कामना है। इस अवसर पर रावल भीमाशंकर लिंग, केदार लिंग, मुख्य पुजारी बागेश लिंग, देवस्थानम बोर्ड के अपर मुख्य कार्यकारी अधिकारी बी.डी. सिंह, जिलाधिकारी मनुज गोयल,पुलिस क्षेत्राधिकारी अनिल मनराल बीकेटीसी पूर्व सदस्य शिवसिंह रावत, एसडीएम रवीन्द्र वर्मा,तहसीलदार जयराम बधाड़ी, धर्माधिकारी आचार्य औंकार शुक्ला,मंदिर प्रशासनिकअधिकारी यदुवीर पुष्पवान, प्रबंधक अरविंद शुक्ला एवं प्रदीप सेमवाल, पारेश्वर त्रिवेदी,महावीर तिवारी,मृत्युंजय हीरेमठ, विपिन कुमार आदि मौजूद रहे।


अधिकारियों को लगातार निर्देश दें रहें हैं सीएम योगी

हरिओम उपाध्याय           

लखनऊ। कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ लगातार अपने अधिकारियों को निर्देश दे रहे हैं। इस कड़ी में सीएम योगी ने टीम-9 की बैठक में फैसला लिया कि सभी सरकारी अस्पतालों में पोस्ट कोरोना मरीजों का इलाज बिल्कुल मुफ्त किया जाएगा।उन्होंने कहा कि जिस तरह से कोरोना बीमारी का इलाज हो रहा है। उसी तर्ज पर पोस्ट कोरोना के मरीजों को भी इलाज की सुविधा मिलेगी। रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद जिन लोगों को अन्य बिमारी हो रही हैं। उनके लिए सरकारी अस्पतालों में भर्ती करने की व्यवस्था की जाए। उन्होंने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को इसके निर्देश दिए। बता दें कि पोस्ट कोविड बीमारियों का मुफ्त इलाज करने का फैसला करने वाला यूपी पहला राज्य है। राज्य सरकार पूर्व से ही कोविड-19 की निःशुल्क जांच एवं उपचार की सुविधा उपलब्ध करा रही है, प्रदेश में निःशुल्क कोरोना वैक्सीनेशन कार्य भी संचालित किया जा रहा है। इससे पहले शनिवार को मुख्‍यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपने निर्देश में कहा है कि सभी जिलाधिकारी यह सुनिश्चित करें कि मरीज और उसके परिजनों का किसी भी प्रकार उत्पीड़न न हो। संक्रमण से मुक्त हो चुके मरीजों को भी यदि चिकित्सकीय निगरानी को जरूरत है तो, उनकी मेडिकल कंडीशन के आधार पर एल-1 हॉस्पिटल में ऑक्सीजन युक्त बेड पर भर्ती करा कर सरकार के व्यय पर कराए जाने के निर्देश दिए गए हैं।

भागवत की लोगों से सकारात्मकता की अपील की

अकांशु उपाध्याय         

नई दिल्ली। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के सरसंघचालक मोहन भागवत ने लोगों से कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में एकजुट और सकारात्मक बने रहने की अपील करते हुए शनिवार को कहा कि अब जो लोग चले गए। वो एक तरह से मुक्त हो गए और उन्हें अब इस परिस्थिति का सामना नहीं करना है। ‘पॉजिटिविटी अनलिमिटेड’ व्याख्यान श्रृंखला को संबोधित करते हुए भागवत ने कहा, ‘यह कठिन समय है। अपने लोग चले गए, उनको ऐसे असमय चले जाना नहीं था। परंतु अब तो कुछ नहीं कर सकते। अब जो परिस्थिति है, उसमें हम हैं और जो चले गए वो एक तरह से मुक्ति हो गए, उनको इस परिस्थिति का सामना अब नहीं करना है। हमको करना है, पीछे हम लोग हैं। अपने आपको और अपने सबको सुरक्षित रखना है। इस परिस्थिति को ध्यान में रखते हुए हमें अपने मन को पॉजिटिव और शरीर को कोरोना निगेटिव रखना है।

तूफान: मौसम विभाग ने महाराष्ट्र में अलर्ट जारी किया

कविता गर्ग          
मुंबई। मौसम विभाग ने मुंबई, रायगढ़, सिंधुदुर्ग, पालघर और ठाणे में अलर्ट जारी किया है। चक्रवाती तूफान ताऊ ते मुंबई को टच करता हुआ 185 किमी/घंटे की रफ्तार से गुजरात की ओर बढ़ गया है। मौसम विभाग के मुताबिक, तूफान अपने सबसे उग्र रूम में मुंबई के समानांतर से गुजरा है। इस दौरान 150 किमी/घंटे की रफ्तार से हवाएं चलीं। भारी बारिश अभी भी दक्षिण मुंबई के कई इलाकों में जारी है। मुंबई में कोरोना वैक्सीनेशन रोका गया है और कोरोना मरीजों को दूसरी जगहों पर शिफ्ट किया गया है। एयरपोर्ट भी 11 बजे से दोपहर 2 बजे तक बंद रहेगा। मुंबई का वर्ली सी लिंक भी बंद किया गया है। समुद्र में हाईटाइड के दौरान 10 से 13 फीट ऊंची लहरें देखने को मिली हैं। मुंबई के अलावा रायगढ़, सिंधुदुर्ग, पालघर और ठाणे में भी वैक्सीनेशन नहीं होगा। यहां भी कोरोना मरीज शिफ्ट किए गए हैं। मौसम विभाग ने मुंबई, रायगढ़, सिंधुदुर्ग, पालघर और ठाणे में अलर्ट जारी किया है। मुंबई में एनडीआरएफ की तीन टीमों को तैनात किया गया है और 5 टीमें अलर्ट पर हैं। 5 जगह अस्थाई शेल्टर होम बनाए गए हैं। शहर के दादर, वर्ली, लोअर परेल, माटुंगा और माहिम सहित मुंबई के पश्चिमी उपनगरीय इलाकों में भारी बारिश हो रही है। मुंबई में वर्ली सी फेस, शिवाजी पार्क, मरीन ड्राइव पर समुद्र तट पर ऊंची लहरें उठ रही हैं।

नारदा केस में 1 बार फिर सीबीआई ने जांच तेज की

मीनाक्षी लोदी              
कोलकाता। बंगाल के नारदा केस में एक बार फिर सीबीआई ने जांच तेज कर दी है। जांच एजेंसी ने सोमवार को कई जगह छापे मारे। इसके बाद ममता सरकार में मंत्री फिरहाद हाकिम, सुब्रत मुखर्जी, विधायक मदन मित्रा और पूर्व मेयर शोवन चटर्जी से पूछताछ शुरू की। पूछताछ के बाद सभी को अरेस्ट कर लिया गया। अब इन्हें कोर्ट में पेश किया जाएगा। सीबीआई कोर्ट से इन चारों नेताओं की कस्टडी मांगेगी। इस कार्रवाई के दौरान एक बार फिर केंद्रीय मंत्री और बंगाल सरकार के बीच तनातनी दिखी। अपने मंत्रियों से पूछताछ के दौरान ही बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी सीबीआई के दफ्तर पहुंचीं। रिपोर्ट्स के मुताबिक, उन्होंने एजेंसी से कहा कि आप मुझे भी गिरफ्तार करिए। सिर्फ टीएमसी नेताओं पर ही कार्रवाई क्यों हो रही है? भाजपा में गए मुकुल रॉय और शुभेंदु अधिकारी पर कोई एक्शन क्यों नहीं लिया जा रहा? उनके वकील ने भी कहा कि बिना नोटिस के मंत्रियों और विधायक को अरेस्ट नहीं किया जा सकता है।

सलाहकार मंडल चीफ का पद से इस्तीफा: कोरोना

अकांशु उपाध्याय                      
नई दिल्ली। भारत के सार्स-कोविड जीनोम कंसोर्शियम के वैज्ञानिक सलाहकार मंडल के चीफ डॉ. शाहिद जमील ने पद से इस्तीफा दे दिया है। उन्होंने न्यूज एजेंसी रॉयटर्स को इस बारे में जानकारी दी है। सीनियर वायरोलॉजिस्ट डॉ. जमील ने कुछ दिन पहले एजेंसी से कहा था कि भारत में अधिकारी सेट पॉलिसी के तहत सबूतों की ओर ज्यादा ध्यान नहीं दे रहे है।

न्यूयॉर्क टाइम्स में लिखे एक आर्टिकल में डॉ. जमील ने कहा था कि भारत में वैज्ञानिक साक्ष्यों के आधार पर पॉलिसी बनाने को लेकर अड़ियल रवैये का सामना कर रहे हैं। भारत के कोविड मैनेजमेंट में कई समस्याए हैं। इनमें कम टेस्टिंग, धीमी रफ्तार से वैक्सीनेशन और वैक्सीन की कमी शामिल है। इसके अलावा हेल्थकेयर वर्क फोर्स भी काफी ज्यादा चाहिए। उन्होंने कहा था कि इन सभी उपायों को लेकर भारत में मेरे साथी वैज्ञानिकों का काफी समर्थन मिल रहा है, लेकिन उन्हें तथ्यों के आधार पर पॉलिसी बनाने को लेकर अड़ियल रवैये का सामना करना पड़ रहा है। 30 अप्रैल को 800 से ज्यादा भारतीय वैज्ञानिकों ने प्रधानमंत्री से अपील की थी कि उन्हें डाटा मुहैया कराया जाए, ताकि वो वायरस के बारे में अंदाजा लगाने और उसे रोकने के लिए स्टडी कर सकें। डाटा के आधार पर फैसला न लेना एक और आपदा है। क्योंकि भारत में महामारी नियंत्रण से बाहर हो गई है। हम जो जानें गंवा रहे हैं, वो कभी न मिटने वाला जख्म का निशान दे जाएगी।

पोरबंदर व महुवा के बीच से गुजरेगा चक्रवात तूफान

अकांशु उपाध्याय              
नई दिल्ली। अरब सागर से उठे चक्रवात ‘ताऊ ते’ का खतरा गुजरात, महाराष्ट्र और कर्नाटक सहित 7 राज्यों पर बना हुआ है। तूफान आज दोपहर 3 बजे तक गुजरात के पोरबंदर तट से टकरा सकता है। इसके बाद दोपहर 3 से शाम 6 बजे के बीच तूफान पोरबंदर और महुवा (भावनगर) के बीच से गुजरेगा। इस दौरान उसकी गति 175 किलोमीटर प्रतिघंटे तक हो सकती है।
गुजरात में 23 साल बाद इतना भयानक तूफान आ रहा है। इससे पहले 9 जून 1998 में कच्छ जिले के कांडला में इतना भयानक तूफान आया था। इसमें 1173 लोगों की मौत हुई थी और 1774 लोग लापता हो गए थे। गुजरात के तटीय जिलों के 655 गांवों से करीब 1.5 लाख लोगों को शिफ्ट किया जा रहा है। पश्चिमी तट से हजारों मकान खाली कराए गए हैं।

कोरोना संक्रमण दर घटा, मौतों का आंकड़ा स्थिर

हरिओम उपाध्याय  
नई दिल्ली। देश में कोरोना संक्रमण के गंभीर संकट के बीच पिछले 24 घंटो के दौरान 2,81,386 नये मामले सामने आये हैं और 3,78,741 लोगों ने इस महामारी को मात दी है। इस बीच छह लाख 91 हजार 211 लोगों को कोरोना के टीके लगाये गये। देश में अब तक 18 करोड़ 29 लाख 26 हजार 460 लोगों का टीकाकरण किया जा चुका है।केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से सोमवार की सुबह जारी आंकड़ों के अनुसार पिछले 24 घंटों में तीन लाख 78 हजार 741 मरीज स्वस्थ हुए हैं , जिससे रिकवरी दर 84.25 फीसदी हो गई है। अब तक दो करोड़ 11 लाख 74 हजार 076 लोग कोरोना को मात दे चुके हैं। इस दौरान 2,81,386 नये मामले आने के साथ ही संक्रमितों का आंकड़ा बढ़कर दो करोड़ 49 लाख 65 हजार 463 हो गया। सक्रिय मामले 1,01,461 कम होकर 35 लाख 16 हजार 997 हो गये हैं।
इसी दौरान 4,106 मरीज अपनी जान गंवा बैठे और इस बीमारी से मरने वालों की संख्या बढ़कर 2,74,390 हो गयी है। देश में सक्रिय मामलों की दर घटकर 14.66 प्रतिशत पर आ गयी है, वहीं मृत्युदर अभी 1.09 फीसदी है। महाराष्ट्र में सक्रिय मामले 25903 कम होकर 4,70,595 हो गये हैं। इस दौरान राज्य में 59318 और मरीजों के ठीक हाेने के बाद कोरोनामुक्त होने वालों की तादाद बढ़कर 48,26,371 हो गयी है।

जबकि 974 और मरीजों की मौत होने से मृतकों का आंकड़ा बढ़कर 81,486 हो गया है। केरल में इस दौरान सक्रिय मामले 4681 घटकर 4,41,011 हो गये तथा 34,296 मरीजों के स्वस्थ होने से कोरोना को मात देने वालों की संख्या बढ़कर 17,00,528 हो गयी है जबकि 89 और मरीजों की मौत होने से मृतकों की संख्या 6428 हो गयी है।

सीएम ममता ने कहा मुझे भी अरेस्ट करें सीबीआई

अकांशु उपाध्याय   
कोलकाता/नई दिल्ली। केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) ने सोमवार को तृणमूल कांग्रेस के नेता फरहाद कीम, सुब्रत मुखर्जी और मदन मित्रा के साथ पार्टी के पूर्व नेता शोभन चटर्जी को नारद स्टिंग मामले में कोलकाता में गिरफ्तार किया। अधिकारियों ने इस बारे में बताया। नारद स्टिंग मामले में कुछ नेताओं द्वारा धन लिए जाने के मामले का खुलासा हुआ था।अधिकारियों ने बताया कि यह कार्रवाई इसलिए की गयी क्योंकि केंद्रीय जांच एजेंसी स्टिंग टेप मामले में अपना आरोपपत्र दाखिल करने वाली है। चारों नेताओं को सोमवार सुबह कोलकाता के निजाम पैलेस में सीबीआई कार्यालय ले जाया गया। इन नेताओं की गिरफ्तारी की खबरें आने के तुरंत बाद पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी अपने नेताओं के साथ सीबीआई कार्यालय पहुंच गयीं।हकीम, मुखर्जी, मित्रा और चटर्जी के खिलाफ मुकदमा चलाने की मंजूरी लेने के लिए सीबीआई ने पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ का रुख किया था। वर्ष 2014 में कथित अपराध के समय ये सभी मंत्री थे। धनखड़ ने चारों नेताओं के खिलाफ मुकदमा चलाने की मंजूरी दे दी थी जिसके बाद सीबीआई अपना आरोपपत्र तैयार कर रही है और उन सबको गिरफ्तार किया गया।

हकीम, मुखर्जी और मित्रा तीनों हालिया विधानसभा चुनाव में तृणमूल कांग्रेस के विधायक के तौर पर निर्वाचित हुए हैं। वहीं, भाजपा से जुड़ने के लिए चटर्जी ने तृणमूल कांग्रेस छोड़ दी थी और दोनों खेमे से उनका टकराव चल रहा है। नारद टीवी न्यूज चैनल के मैथ्यू सैमुअल ने 2014 में कथित स्टिंग ऑपरेशन किया था।जिसमें तृणमूल कांगेस के मंत्री, सांसद और विधायक लाभ के बदले में कंपनी के प्रतिनिधियों से कथित तौर पर धन लेते नजर आए। यह टेप पश्चिम बंगाल में 2016 के विधानसभा चुनाव के पहले सार्वजनिक हुआ था। कलकत्ता उच्च न्यायालय ने स्टिंग ऑपरेशन के संबंध में मार्च 2017 में सीबीआई जांच का आदेश दिया था।

मंत्रियों, विधायक की गिरफ्तारी के बाद ममता पहुंचीं सीबीआई कार्यालय
नारद स्टिंग ऑपरेशन मामले में अपने दो मंत्रियों और तृणमूल कांग्रेस के एक विधायक की गिरफ्तारी के बाद पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी सोमवार को कोलकाता में सीबीआई कार्यालय पहुंच गयीं। मुख्यमंत्री बनर्जी 10 बजकर 50 मिनट पर निजाम पैलेस स्थित केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) के कार्यालय पहुंचीं। सूत्रों का कहना है कि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने सीबीआई के अफसरों से कहा कि अगर आप इन चार नेताओं को गिरफ्तार कर रहे हैं तो मुझे भी गिरफ्तार करना पड़ेगा, राज्य सरकार या कोर्ट के नोटिस के बिना इन चारों नेताओं को गिरफ्तार नहीं कर सकते हैं, अगर फिर भी गिरफ्तार करते हैं तो मुझे भी गिरफ्तार किया जाए।

घेराबंदी कर सुरक्षाबलों ने आतंकियों को ढ़ेर किया

हरिओम उपाध्याय  

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर की ग्रीष्मकाली राजधानी श्रीनगर के बाहरी क्षेत्र में सोमवार को तलाश एवं घेराबंदी अभियान के दौरान मुठभेड़ में सुरक्षा बलों ने दो आंतवादियों को मार गिराया। पुलिस के एक प्रवक्ता ने बताया कि श्रीनगर के बाहरी क्षेत्र खानमोह में आतंकवादियों की उपस्थिति की खुफिया सूचना मिलने पर राष्ट्रीय राइफल्स (आरआर), जम्मू-कश्मीर पुलिस के विशेष अभियान समूह (एसओजी) और केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के जवानों ने आज तड़के संयुक्त रूप से घेराबंदी तथा तलाश अभियान शुरू किया।

प्रवक्ता ने बताया कि क्षेत्र से जुड़ी सभी सड़कों और निकास बिंदुओं को बंद कर दिया गया है। अभियान के दौरान जब सुरक्षा बल के जवान एक विशेष क्षेत्र की तरफ जा रहे थे, तब मुठभेड़ शुरू हो गई। उन्होंने बताया कि अभी तक मुठभेड़ में दो आतंकवादी मारे गए हैं तथा अंतिम सूचना मिलने तक सुरक्षा बलों का अभियान जारी था।

कोरोना रोधी दवा 2-डीजी की पहली खेप जारी की

अकांशु उपाध्याय  

नई दिल्ली। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) की ओर से विकसित की गयी कोविड-19 रोधी दवा 2-डीजी की पहली खेप सोमवार को जारी की। कोविड-19 के मध्यम लक्षण वाले तथा गंभीर लक्षण वाले मरीजों पर 2-डीऑक्सी-डी-ग्लुकोज (2-डीजी) दवा के आपातकालीन इस्तेमाल को भारत के औषधि महानियंत्रक (डीजीसीआई) की ओर से मंजूरी मिल चुकी है।

इस अवसर पर अपने संक्षिप्त संबोधन में राजनाथ सिंह ने कहा कि यह दवा कोविड-19 मरीजों के उपचार के लिए उम्मीद की किरण ले कर आई है। उन्होंने कहा, ‘‘यह देश के वैज्ञानिक कौशल का अनुपम उदाहरण है।’’ रक्षा मंत्री ने कहा कि यह समय थकने और आराम करने का नहीं है क्योंकि इस महामारी के स्वरूप को लेकर कुछ भी निश्चित जानकारी नहीं है। डीआरडीओ की ओर से आयोजित इस कार्यक्रम में उन्होंने कहा, ‘‘हमें ना तो थकना है और ना ही आराम करना है।क्योंकि यह लहर दूसरी बार आई है और इसे लेकर कुछ निश्चित जानकारी नहीं है। हमें बहुत सावधानी से कदम आगे बढ़ाना है।’’उन्होंने कहा कि चाहे ऑक्सीजन की आपूर्ति का मामला हो या आईसीयू बिस्तरों या तरल ऑक्सीजन के परिवहन के लिए क्रायोजेनिक टैंकरों की उपलब्धता सुनिश्चित करने की बात हो, सरकार ने पूरी स्थिति को बेहद गंभीरता से लिया है। उन्होंने कहा, ‘‘मुझे यह कहते हुए खुशी हो रही है कि सशस्त्र बलों से सेवानिवृत्त हो चुके चिकित्सकों को स्वास्थ्य ढांचे को मजबूत करने के लिए मोर्चे पर लगाया गया है।

सेवा के बाद भी इस अभियान में जुड़े चिकित्सकों की मैं दिल से सराहना करता हूं।’’ रक्षा मंत्री ने इस अवसर पर सशस्त्र बलों की ओर से कोविड-19 के खिलाफ देश की लड़ाई में किए जा रहे योगदानों की चर्चा की और कहा कि इसके बावजूद सीमाओं पर उनके क्रियाकलापों पर कोई असर नहीं पड़ा है। उन्होंने कहा, ‘‘इन सब मुसीबतों के बीच हमने यह सुनिश्चित करने का प्रयास किया है कि सीमाओं पर हमारी तैयारियों पर कोई असर ना पड़े। हमारे बलों के जज्बे में कहीं भी कोई कमी नहीं आई है। हम इसे अच्छी तरह जानते हैं। मुसीबत कितनी भी बड़ी क्यों ना हो, जीत हमारी होगी।’’

रक्षा मंत्रालय ने आठ मई को एक बयान में कहा था कि 2-डीऑक्सी-डी-ग्लूकोज (2-डीजी) के क्लीनिकल परीक्षण में पता चला है कि इससे अस्पताल में भर्ती मरीजों की ऑक्सीजन पर निर्भरता को कम करने में मदद मिलती है। साथ ही इस दवा से मरीज जल्दी ठीक होते हैं। इस दवा को ऐसे समय में मंजूरी मिली है जब भारत कोविड-19 महामारी की दूसरी लहर के चपेट में है और देश के स्वास्थ्य ढांचे पर इसका गहरा असर पड़ा है। कोविड-19 रोधी इस दवा को डीआरडीओ की अग्रणी प्रयोगशाला नाभिकीय औषधि तथा संबद्ध विज्ञान संस्थान (इनमास) ने हैदराबाद के डॉक्टर रेड्डीज प्रयोगशाला के साथ मिलकर विकसित किया है। यह दवा एक सैशे में पाउडर के रूप में उपलब्ध रहेगी जिसे पानी में मिलाकर मरीजों को पीना है।

हाइपरटेंशन से पीड़ित आमतौर पर जागरूक नहीं

हाइपरटेंशन, हाई ब्लड प्रेशर का ही दूसरा नाम है जो गंभीर हेल्थ कॉम्पलीकेशन जैसे कि दिल का दौरा, स्ट्रोक, डिमेंशिया, क्रोनिक किडनी डिजीज और विजन लॉस की वजह बन सकता है। हाइपरटेंशन से पीड़ित लोग आमतौर पर जागरूक नहीं होते हैं क्योंकि इस बीमारी के शुरुआती चरणों का पता लगाने के लिए कोई विशिष्ट लक्षण ही नहीं होते हैं।

इसलिए लोगों में जागरूकता फैलाने के लिए हर साल 17 मई को वर्ल्ड हाइपरटेंशन डे 2021 मनाया जाता है। इस दिन की शुरुआत द वर्ल्ड हाइपरटेंशन लीग (WHL) के जरिए की गई थी, जो स्वयं 85 राष्ट्रीय हाइपरटेंशन लीग और समाजों के संगठनों के लिए एक छाते का काम करते हैं। हाइपरटेंशन कार्डियोवस्कुलर डिजीज के लिए प्राथमिक जोखिम कारक है जिसे इसके अज्ञात लक्षणों की वजह से साइलेंट किलर के रूप में भी जाना जाता है। 

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

 सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

1. अंक-275 (साल-02)
2. मंगलवार, मई 18, 2021
3. शक-1984, बैसाख, शुक्ल-पक्ष, तिथि- सप्तमी, विक्रमी सवंत-2078।
4. सूर्योदय प्रातः 06:00, सूर्यास्त 07:07।
5. न्‍यूनतम तापमान -11 डी.सै., अधिकतम-36+ डी.सै.।
6.समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है।
7.स्वामी, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी।
8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102।
9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.-20110
http://www.universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
संपर्क सूत्र :- +919350302745  
                     (सर्वाधिकार सुरक्षित)

गाजियाबाद: निर्धारित शर्तों के हिसाब से कर्फ्यू लागू

अश्वनी उपाध्याय              गाज़ियाबाद। जिले के सभी बाजार दो दिन के लिए सोमवार की सुबह सात बजे तक पूर्ण रूप से शासन की तरफ से निर्धारित शर्...