शुक्रवार, 4 जून 2021

कच्चे माल के निर्यात से 'अमेरिका' ने रोक हटाईं

वाशिंगटन डीसी/ नई दिल्ली। कोरोना वैक्सीन की मैन्युफैक्चरिंग के लिए जरूरी कच्चे माल के निर्यात से अमेरिका ने रोक हटा ली है। इसके अलावा अपने पड़ोसी और साझीदार देशों की उस लिस्ट में भारत को भी अहम स्थान दिया है। जिन्हें वह कोरोना वैक्सीन की सप्लाई करने वाला है। अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने ग्लोबल एलोकेशन प्लान लॉन्च किया है। इस अभियान के तहत अमेरिका की ओर से दुनिया कई देशों को कोरोना टीकों की 25 मिलियन डोज की सप्लाई की जानी है। इसका बड़ा हिस्सा भारत को भी मिलने वाला है। अमेरिका के रुख में यह बदलाव इसलिए भी उल्लेखनीय है क्योंकि बीते कुछ महीनों से उसने वैक्सीन की मैन्युफैक्चरिंग के लिए जरूरी कच्चे माल के निर्यात पर रोक लगा रखी थी। 

अमेरिका में भारत के राजदूत तरनजीत सिंह संधू ने गुरुवार शाम को मीडिया से बात करते हुए यह जानकारी दी। अमेरिका ने इससे पहले डिफेंस प्रोडक्शन एक्ट लागू कर दिया था। जिसके चलते किसी भी अहम चीज की सप्लाई में अमेरिका को प्राथमिकता देना जरूरी था। बता दें कि भारत ने अमेरिका से इस रोक को हटाने की अपील भी की थी। इसके बाद अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने कहा था कि भारत हमारे साथ मुश्किल वक्त में खड़ा था। जो हमें याद है और हम भी उसके साथ खड़े रहेंगे। यह रोक हटाए जाने के बाद वैक्सीन निर्माताओं के लिए कच्चे माल की उपलब्धता आसान हो जाएगी।

'पर्यावरण दिवस' कार्यक्रम को संबोधित करेंगे पीएम

अकांशु उपाध्याय          

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए शनिवार की सुबह 11 बजे विश्व पर्यावरण दिवस 2021 कार्यक्रम को संबोधित करेंगे। यह कार्यक्रम पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय और पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय की ओर से संयुक्त रूप से आयोजित किया जा रहा है। इस वर्ष के कार्यक्रम का विषय 'बेहतर पर्यावरण के लिए जैव ईंधन को बढ़ावा देना' है। 

केंद्र सरकार ने कहा है कि इस कार्यक्रम के दौरान पीएम नरेंद्र मोदी 'भारत में 2020-2025 के दौरान इथेनॉल सम्मिश्रण से संबंधित रोडमैप के बारे में विशेषज्ञ समिति की रिपोर्ट' जारी करेंगे। विश्व पर्यावरण दिवस मनाने के क्रम में भारत सरकार तेल कंपनियों को 1 अप्रैल 2023 से इथेनॉल मिश्रित पेट्रोल को इथेनॉल की 20 प्रतिशत तक की प्रतिशतता के साथ बेचने और उच्च इथेनॉल मिश्रणों ई-12 और ई-15 से संबंधित बीआईएस विनिर्देश के बारे में निर्देश देते हुए ई-20 अधिसूचना जारी कर रही है।

कमजोरी का रुख, सोने-चांदी के दामों में गिरावट आईं

अकांशु उपाध्याय              
नई दिल्ली। सोने और चांदी की खरीदारी करने वालों के लिए अच्छी खबर है। आज सोना-चांदी की कीमतें घटी है। शुक्रवार को देशभर के सर्राफा बाजार में सोने और चांदी के दामों में गिरावट आई है। वैश्व़िक बाजारों में कमजोरी के रुख के बीच राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के सर्राफा बाजार में शुक्रवार को सोना 388 रुपये गिरकर 47,917 रुपये प्रति 10 ग्राम पर आ गया। एचडीएफसी सिक्योरिटीज के मुताबिक दिल्ली में पिछले कारोबारी सत्र में सोना 48,305 रुपये प्रति 10 ग्राम पर बंद हुआ था। वहीं, चांदी भी 920 रुपये की गिरावट के साथ 69,369 रुपये प्रति किलोग्राम पर आ गई है। 

जबकि, पिछले कारोबार सत्र में चांदी का भाव 70,289 रुपये प्रति किलोग्राम रहा। अंतरराष्ट्रीय बाजार में सोना और चांदी दोनों क्रमश: 1,870 डॉलर और 27.35 डॉलर प्रति औंस पर करीब करीब स्थिर रहे। सर्राफा बाजार में पिछले दो दिनों में सोने की कीमत में 1000 रुपए की गिरावट आई हैं तो वहीं चांदी की कीमत में भी लगातार गिरावट की स्थिति बनी हुई है।पिछले दो दिनों में चांदी के दाम में करीब 2000 रुपए की नरमी आई है। वहीं अगर सोने के इस मूल्य की तुलना करें तो सोना अपने उच्चतम मूल्य से तकरीबन 8000 रुपए नीचे गिर गया है। आपको बता दें कि 7 अगस्त 2020 में सोने की कीमत 56200 रुपए प्रति 10 ग्राम क मूल्य को पार कर गई थी।

गाज़ियाबाद के 42वें जिलाधिकारी बनेगें आरके सिंह

अश्वनी उपाध्याय                

गाजियाबाद। शनिवार को 2018 बैच के आईएएस राकेश कुमार सिंह गाज़ियाबाद के 42वें जिलाधिकारी का पदभार ग्रहण करेंगे। संवाददाताओं से बातचीत करते हुए राकेश कुमार सिंह ने कहा कि जनपद में विकासकारी योजनाओं को प्राथमिकता पर पूरी कराने के साथ विकास कार्यों को तरजीह दी जाएगी। वहीं, आमजन की समस्याओं को प्राथमिकता पर लेते हुए समस्याएं समय पर हल होगी। उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर के चलते आमजन को जिला प्रशासन की ओर से हरसंभव मदद दिलाई जाएगीं।

मुरादाबाद जनपद में पिछले 4 साल से जिलाधिकारी के रूप में तैनात आईएएस अधिकारी राकेश कुमार सिंह को गाजियाबाद का जिलाधिकारी बनाया गया हैं।  राकेश कुमार सिंह सपा सरकार के कार्यकाल में 23 जून 2005 से 2 जून 2007 तक सिटी मजिस्ट्रेट के रूप में तैनात रहे। नवंबर-2014 से फरवरी-2015 तक वे गाज़ियाबाद नगर निगम में बतौर नगर आयुक्त तैनात रहे। इसके बाद हापुड़-पिलखुवा विकास प्राधिकरण में उपाध्यक्ष एवं नोएडा में यमुना एक्सप्रेस अथॉरिटी में सीईओ तैनात रह चुके हैं।

पशु सेवा केंद्र मूरतगंज का औचक निरीक्षण किया

कौशाम्बी। मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी वीपी पाठक लगातार पशु अस्पतालों और आश्रय स्थलों का निरीक्षण कर स्थितियों की जानकारी ले रहे हैं। जिला अधिकारी ने जिले के पशु अस्पतालों और आश्रय स्थल की स्थितियों का निरीक्षण करने का निर्देश मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी को दिया है। इसी क्रम में मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी बी पी पाठक ने पशु सेवा केंद्र मूरतगंज का औचक निरीक्षण किया है। निरीक्षण के दौरान वहां की व्यवस्थाओं से लगभग वह संतुष्ट दिखाई पड़े हैं और वहां मौजूद कर्मचारियों को उन्होंने उचित दिशा निर्देश दिया है। 
इसके बाद वह पशु चिकित्सालय मुरतगंज पहुंचे। 
जहां पर उन्होंने व्यवस्थाओं को देखा है। साफ-सफाई के अभाव पर उन्होंने चतुर्थ श्रेणी कर्मी को व्यवस्था सुधारने का निर्देश चेतावनी के साथ दिया है। इसके बाद अस्थाई आश्रय स्थल उमारछा मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी पहुंचे हैं यहां पर ग्राम प्रधान भी मौजूद थे। आश्रय स्थल की व्यवस्थाओं को उन्होंने देखा है। उन्होंने देखा कि यहां पशुओं की संख्या पर्याप्त है, भूसा आदि वस्तु उपलब्ध है। वहां मौजूद लोगों को उन्होंने उचित दिशा-निर्देश देते हुए व्यवस्था और बेहतर बनाने का निर्देश दिया है।
सुशील केसरवानी 

इंस्पेक्टर के बाद फर्जी एसएचओ को दबोचा: अपराध

राणा ऑबराय               
जींद। अपराध करने वाले लोग किसी भी हद तक जा सकते हैं। ऐसा ही मामला जिला जींद से जुड़ा है। एक नकली एसएचओ व एक नकली सीबीआई इंस्पेक्टर बनकर दो लोग पुलिस स्टेशन में ही पुलिस अधिकारियों पर रॉब झाड़ने लगे। हरियाणा की जींद पुलिस ने कार्यवाही करते हुए फर्जी सीबीआई इंस्पेक्टर की गिरफ्तारी के बाद अब फर्जी एसएचओ को भी दबोच लिया है। नकली एसएचओ अनिल दहिया ने अमन से अवैध हथियार खरीदे थे। सफीदों सदर पुलिस ने मामले में कार्रवाई की है। नकली सीबीआई इंस्पेक्टर बनकर सफीदों पुलिस को धौंस दिखाने वाले अनिल दहिया से पुलिस ने गहनता से पूछताछ की तो उसने बताया कि उसके जिस साथी अमन ने लड़की के परिवार को एसएचओ गोहाना बनकर धमकी दी थी। वह भी नकली है और उसी से उसने यह नाजायज हथियार खरीदा था। उसके बाद पुलिस ने दबिश दी और अमन को हिरासत में लेकर सफीदों ले आई। 
गौरतलब है कि उपमंडल सफीदों के गांव हाट की एक लड़की का अपने सुसराल वालों से तनाव चल रहा था और वह अपने मायके में आकर रह रही थी। अनिल दहिया नामक युवक लड़की वालों पर अपने आप को सीबीआई इंस्पेक्टर बतलाकर दबाव बना रहा था कि अपनी लड़की को गोहाना भेज दो अन्यथा लड़की को जबरदस्ती गांव से उठाकर ले जाएंगे। उसके बाद अमन ने लड़की के पिता के पास अपने आप को एसएचओ गोहाना बतलाकर फोन किया तथा कहा कि गोहाना थाना आ जाओ अन्यथा गांव से उठाकर ले जाऊंगा। जिस पर लड़की वालों ने कहा कि थाना सदर सफीदों में आ जाओ, वहीं बैठकर बातचीत करेंगे। वह धमकी देने वाला सफीदों सदर थाने में आया और अपने आप को अनिल दहिया सीबीआई इंस्पेक्टर बताया और उसके पास पिस्तौल भी था। 
खुद को बता रहा था सीबीआई इंस्पेक्टर पुलिस ने जब लड़की वाले मामले में दोनों पक्षों को बुलाकर पूछताछ शुरू की तो अनिल दहिया ने रौब झाड़ते हुए कहा कि मैं सीबीआई इंस्पेक्टर हूं और इन लड़की वालों पर कार्रवाई करो। अनिल दहिया द्वारा बार-बार अपने आप को सीबीआई इंस्पेक्टर बताने पर एएसआई मलकीत को शक हुआ तो उसने अनिल दहिया की पिस्तौल व आई कार्ड चेक किया तो दोनों नकली पाए गए। पुलिस ने नकली पिस्तौल व फर्जी आईकार्ड के साथ आरोपी अनिल दहिया को काबू करके उससे पूछताछ शुरू की तो उसने बताया कि उसके साथ गोहाना का अमन भी शामिल है और उसी ने फर्जी एसएचओ गोहाना बनकर लड़की वालों को फोन किया था और उसी से उसने नाजायज हथियार लिया था। इसी पूछताछ के आधार पर पुलिस ने गोहाना के अमन को काबू किया।

पुलिस: सिपाहियों ने फिर कराया महिला का प्रसव

बृजेश केसरवानी             
प्रयागराज। पुलिस विभाग का नाम रोशन करने वाले जाबाज सिपाही आज अच्छा कार्य किए हैं। देर जारी चौकी में तैनात दो सिपाही कांस्टेबल दीपक पांडे व कांस्टेबल जितेंद्र यादव रात्रि 2 बजे गश्त में थाना कौंधियारा चौकी जारी क्षेत्र में कर रहे थे। अभी अचानक एक ऑटो खराब दिखा। जिसमें एक महिला दर्द से परेशान होकर तड़प रही थी। दोनों कांस्टेबल मौके पर पहुंचकर ऑटो चालक से व वहां खड़ा व्यक्ति से पूछताछ किए तो पता चला उन लोगों ने बताया कि एक महिला को प्रसव पीड़ा हो रही है। 
ऑटो खराब होने की वजह से अस्पताल नहीं जा सकते, फिर क्या ? इतना सुनते ही जाबाज सिपाहियों ने महिला को अपनी गाड़ी से परिवार सहित अस्पताल पहुंचाया। आपको बता दें महिला के परिजन ने बताया हम लोग गींज पहाड़ी थाना बारा है। तनु वाइफ ऑफ नीरज सिंह बताया गया उक्त महिला की पूरी सहायता कर अस्पताल पहुंचाकर जच्चा बच्चा को सुरक्षित हालत में परिजनों को सौंपा गया। जिसमें महिला को पुत्र रत्न की प्राप्ति हुई। मां और बच्चा दोनो सकुशल हैं। वही खाकी का इस तरह का मानवीय चेहरा देखकर परिवार वालों ने पुलिस का आभार प्रकट किया।

नशीली कफ: पुलिस ने 2 अभियुक्तों को किया अरेस्ट

बृजेश केसरवानी              
प्रयागराज। जनपद में शंकरगढ़ पुलिस ने नशीली कफ सीरप की तस्करी करने वाले को पुलिस ने गिरफ्तार किया। पुलिस को मुखबिर की सटीक सूचना पर रानीगंज रेलवे क्रॉसिंग के पास नशीली कफ सिरफ के साथ दो अभियुक्तों को गिरफ्तार किया है। जैकी कुमार भारतीय और रंजीश पटेल को गिरफ्तार कर कब्जे से 320 शीशी ओनेरेक्स 100 एमआईं नशीली औषधि सीरप व घटना में प्रयुक्त मोटर साइकिल बरामद किया गया। मौके पर औषधि निरीक्षक गोविंद लाल गुप्ता जांच पड़ताल कर रहे हैं। फिलहाल दोनों आरोपियों पर एनडीपीएस के तहत कार्रवाई की जा रही है।

शानदार व्यवस्था के बीच वैक्सिनेशन सम्पन्न हुआ

गोपीचंद               
बड़ौत। पत्रकारों के लिए कोविड वैक्सिनेशन के लिए सीएचसी बड़ौत में आज विशेष कैंप लगाया गया था। इस कैम्प में पत्रकारों व उनके परिजनों को बनाई गई शानदार व्यवस्था के बीच वैक्सिनेशन सम्पन्न हुआ।
जिलाधिकारी राजकमल यादव के निर्देश पर बड़ौत सीएचसी में आज पत्रकारों के लिए चार दिवसीय विशेष कैंप का आयोजन हुआ। 
4 जून से 7 जून तक चलने वाले इस कैंप में आज पहले दिन पत्रकारों व उनके परिजनों का टीकाकरण किया गया। सीएचसी अधीक्षक डॉ विजय कुमार ने बताया कि की गई व्यवस्था के अनुसार 50 पत्रकारों व उनके परिजनों का वैक्सीनेशन पूर्ण हुआ है। सभी पत्रकारों का बहुत सराहनीय सहयोग। उन्होंने बताया कि यह कैंप शनिवार को भी जारी रहेगा जिसमें भी 50 पत्रकारों व उनके परिजनों को वैक्सीनेशन किया जाएगा।

महिला ने परिचितो पर दुष्कर्म का आरोप लगाया

अतुल त्यागी                  
हापुड़। घर से मायके के लिए रिश्तेदार के संग निकली महिला के साथ दुष्कर्म का मामला सामने आया है। थाना क्षेत्र के एक गांव निवासी महिला ने परिचितो पर सामूहिक दुष्कर्म का आरोप लगाया है। पुलिस ने पीडिता को मेडिकल परीक्षण के लिए भेजकर जांच शुरू कर दी है। क्षेत्राधिकारी पिलखुवा डाॅ. तेजवीर सिंह ने बताया कि पीडिता धौलाना थाना क्षेत्र के एक गांव की निवासी है। सुबह महिला ने थाने मे पहुंचकर बताया कि बुधवार शाम उसके रिश्तेदार ने उसे मायके ले जाने की बात कही। जिस पर महिला मायके जाने को तैयार हो गई। इस दौरान रिश्तेदार के साथ दो अन्य ग्रामीण भी थे। तीनो के साथ वाहन मे सवार होकर चली गई। 
रास्ते मे तीनो आरोपी उसे जबरन खेत मे ले गए और सामूहिक दुष्कर्म किया। विरोध करने पर महिला को जान से मारने की धमकी दी गई। बेहोशी की हालत मे महिला को छोडकर तीनो फरार हो गए। होश मे आने के बाद किसी तरह महिला अपने घर पहुंची और परिजनो को आपबीती बताई। थाना प्रभारी निरीक्षक धर्मेन्द्र सिंह का कहना है कि पीडिता ने रिश्तेदार सहित तीन लोगो पर सामूहिक दुष्कर्म का आरोप लगाते हुए तहरीर दी है।आरोपियो के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है। पीडित के साथ घटना स्थल पर पहुंचकर जांच की गई। घटना स्थल मसूरी थाना क्षेत्र से जुडा लग रहा है। फिलहाल पीडिता को मेडिकल परीक्षण के लिए भेजा गया है। घटना मे शामित तीनो लोगो की तलाश मे दबिश दी जा रही है।

सीबीएसई ने 13 सदस्यीय समिति का गठन किया

अकांशु उपाध्याय                

नई दिल्ली। केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने 12वीं कक्षा के छात्रों के मूल्यांकन के उद्देश्य से वस्तुनिष्ठ मानदंड तय करने के लिए 13 सदस्यीय समिति का गठन किया है और यह समिति 10 दिनों में रिपोर्ट पेश करेगी। कोरोना वायरस महामारी की दूसरी लहर के मद्देनजर 12वीं कक्षा की बोर्ड परीक्षा रद्द कर दी गई थीं।सीबीएसई के परीक्षा नियंत्रक संयम भारद्वाज ने कहा, ” कोविड-19 महामारी के कारण उत्पन्न अनिश्चित स्थिति और विभिन्न पक्षकारों की राय के आधार पर यह फैसला किया गया था कि इस वर्ष सीबीएसई की 12वीं बोर्ड परीक्षा नहीं होगी। यह भी फैसला किया गया कि समयबद्ध तरीके से परीक्षा परिणाम तैयार करने के लिये वस्तुनिष्ट मानदंड निर्धारित किये जायेंगे। ”उन्होंने कहा, ” बारहवीं कक्षा के छात्रों के मूल्यांकन के उद्देश्य से सीबीएसई ने वस्तुनिष्ठ मानदंड तय करने के लिए 13 सदस्यीय समिति का गठन किया। समिति 10 दिनों के भीतर 12वीं कक्षा के विद्यार्थियों के मूल्यांकन मानदंड पर रिपोर्ट सौंपेगी। ”

गौरतलब है कि मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई बैठक के बाद केंद्र सरकार और केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ने 12वीं की बोर्ड परीक्षा रद्द करने का फैसला किया था। सीबीएसई 12वीं की परीक्षा रद्द करने के फैसले पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था कि ‘छात्रों का स्वास्थ्य और उनकी सुरक्षा शीर्ष प्राथमिकता है। जिससे कोई समझौता नहीं किया जा सकता। छात्रों को अंक किस आधार पर मिलेंगे और परिणाम कैसे तैयार होगा। इस बारे में सीबीएसई ने कहा था कि समय के अनुसार उचित मानदंड के तहत अंक दिये जायेंगे और परिणाम तैयार होगा। वहीं छात्रों को परीक्षा देने का विकल्प भी दिया जाएगा। जो छात्र अपने अंक से संतुष्ट नहीं होंगे वे बाद में परीक्षा देने का विकल्प चुन सकेंगे। गौरतलब है कि उच्चतम न्यायालय में भी इस मामले पर सुनवाई चल रही है।

सरकार के स्पष्टीकरण को लेकर सवाल पूछे: देवेंद्र

कविता गर्ग             
नागपुर। भाजपा नेता देवेंद्र फडणवीस ने शुक्रवार को उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाली महा विकास आघाड़ी (एमवीए) सरकार और उसके मंत्रियों पर तंज कसते हुए कहा कि राज्य में सिर्फ एक मुख्यमंत्री हैं और कई ”सुपर मुख्यमंत्री” हैं। जो अपने स्तर पर अहम नीतिगत फैसलों के बारे में घोषणाएं करते हैं। उन्होंने कहा कि कई मंत्री खुद को मुख्यमंत्री समझते हैं और ऐसी घोषणाएं कर श्रेय लेने की कोशिश करते हैं। फडणवीस ने महाराष्ट्र में मंत्री विजय वडेट्टीवार की घोषणा के उलट बृहस्पतिवार शाम राज्य में कहीं भी लॉकडाउन जैसी पाबंदी नहीं हटाने के संबंध में महाराष्ट्र सरकार के स्पष्टीकरण को लेकर सवाल पूछे जाने पर यह बात कही। 
उन्होंने पत्रकारों से कहा, ”इस सरकार में एक मुख्यमंत्री है और कई सुपर मुख्यमंत्री हैं। कई मंत्री खुद को मुख्यमंत्री समझते हैं और ऐसी घोषणाएं करते हैं। ”उन्होंने कहा कि किसी भी सरकार में एक मुख्यमंत्री नीतिगत फैसले लेता है या अहम मुद्दे पर बोलने के लिए किसी मंत्री को चुनता है। इस सरकार में मुख्यमंत्री के बयान जारी करने से पहले ही कई मंत्री बोलने लगते हैं। यह ऐसी घोषणाओं के जरिये श्रेय लेने का प्रयास है। पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा, ”सिर्फ इसी वजह से कल अनलॉक की घोषणा के कारण अफरा-तफरी मची और ऐसा पहले भी हो चुका है।” 
विधानसभा में विपक्ष के नेता ने कहा कि बड़े नीतिगत फैसलों पर सरकार का बयान लोगों तक स्पष्ट रूप से पहुंचना चाहिए। आपदा प्रबंधन मंत्री वडेट्टीवार ने बृहस्पतिवार दोपहर पत्रकारों से कहा था कि शुक्रवार को राज्य के 36 में से 18 ऐसे जिलों में पाबंदियों में ढील दी जाएगी जहां संक्रमण की दर पांच प्रतिशत अथवा उससे कम है और अस्पतालों में ऑक्सीजन की सुविधा वाले 75 प्रतिशत बिस्तर खाली हों। मुंबई में राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण की बैठक के बाद उन्होंने संवाददाता सम्मेलन किया था। 
हालांकि इसके कुछ देर बाद मुख्यमंत्री कार्यालय (सीएमओ) ने बयान जारी कर कहा कि कहीं भी मौजूदा पाबंदी नहीं हटायी गयी है और विभिन्न क्षेत्रों में पाबंदियों में ढील देने पर विचार किया जा रहा है। लेकिन इस बारे में अब तक कोई अंतिम फैसला नहीं हुआ है। इसके बाद वडेट्टीवार ने कहा कि पाबंदियों को चरणबद्ध तरीके से हटाने को मंजूरी प्रदान कर दी गयी है। लेकिन अब तक कोई अंतिम फैसला नहीं लिया गया है।

ओलंपिक के व्यापक विरोध की अनदेखी: जापान

तोक्यो। जापान की सबसे प्रसिद्ध ओलंपियनों में से एक और जापानी ओलंपिक समिति की कार्यकारी सदस्य काओरी यामागुची का मानना है कि जापान कोविड-19 महामारी के दौरान तोक्यो खेलों के आयोजन को लेकर ‘पसोपेश’ में है। शुक्रवार को प्रकाशित एक संपादकीय में यामागुची ने मुखर होकर कहा कि अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति (आईओसी), सरकार और स्थानीय आयोजक जापानी जनता के ओलंपिक के व्यापक विरोध की अनदेखी कर रहे हैं।
अलग-अलग जनमत संग्रहों में जापान की 50 से 80 प्रतिशत जनता ने ओलंपिक आयोजन के खिलाफ मतदान किया है। यामागुची ने जापान की क्योदो समाचार एजेंसी द्वारा प्रकाशित एक संपादकीय में लिखा है, ”हम एक ऐसी स्थिति में फंस गए हैं। जहां अब हम रुक भी नहीं सकते। अगर हम ऐसा करते हैं तो हमें नुकसान होगा और अगर हम ऐसा नहीं करते हैं तो भी हमें बहुत नुकसान होगा।” उन्होंने कहा, ”ऐसा लग रहा है कि आईओसी के लिए जापान की जनता की राय कोई मायने नहीं रखती है।”

किसान आंदोलन के नेतृत्व को लेकर फूट बढ़ने लगी

अकांशु उपाध्याय/राणा ओबरॉय   
नई दिल्ली/चंडीगढ़। हरियाणा में छह माह से चल रहे किसान संगठनों के आंदोलन में नेतृत्व को लेकर फूट बढ़ती जा रही है। पंजाब के किसान नेताओं के नेतृत्व को यहां के आंदोलनकारी न केवल खारिज कर चुके हैं, बल्कि अब भाकियू नेता राकेश टिकैत, गुरनाम सिंह चढूनी और योगेंद्र यादव के नेतृत्व पर भी सवाल उठाने लगे हैं। किसान संगठनों के बीच नेतृत्व का यह विवाद हालांकि काफी समय से चल रहा था, लेकिन हिसार में आंदोलनकारियों व प्रशासन के बीच हुई वार्ता का आधा अधूरा सच बाहर आने तथा टोहाना में जननायक जनता पार्टी के विधायक देवेंद्र बबली के साथ हुई हिंसक वारदात के बाद इस विवाद ने पूरी तरह से हवा ले ही है।
आंदोलनकारी उठाने लगे इन किसान नेताओं के नेतृत्‍व पर सवाल

हाल फिलहाल भाकियू नेता गुरनाम सिंह चढूनी आंदोलनकारियों के निशाने पर हैं, जिन्होंने पिछले दिनों बाकी किसान संगठनों से अपना नाता तोड़ते हुए अलग फेडरेशन बना ली। चढूनी भले ही इस फेडरेशन के बनाने के कितने भी कारण गिनाते रहें, लेकिन इस वास्तविकता से इन्कार नहीं किया जा सकता कि राकेश टिकैत की मध्य और उत्तर हरियाणा में दस्तक से चढूनी खासे नाराज हैं। बातों ही बातों में कई बार चढूनी यह इशारा भी कर चुके हैं कि टिकैत को उत्तर प्रदेश देखना चाहिए, हरियाणा को हम संभाल ही लेंगे। इस विवाद के बीच योगेंद्र यादव ने दक्षिण हरियाणा में मोर्चा संभाला हुआ है।

हिसार में हुई वार्ता और टोहाना में देवेंद्र बबली के विरोध की घटना के बाद फूट की दरार अधिक चौड़ी हुई

किसान संगठनों के बीच फूट का सिलसिला हालांकि कई माह पहले आरंभ हो गया था, लेकिन उस समय विवाद ज्यादा बढ़ा जब हिसार के आइजी ने राकेश टिकैत और गुरनाम सिंह चढूनी को बातों ही बातों में यह कह दिया कि उत्तर प्रदेश के सीएम और हरियाणा के सीएम एक ही दिन अपने-अपने राज्यों में सरकारी दौरे पर आते हैं, लेकिन आप उत्तर प्रदेश की बजाय हरियाणा में आंदोलन को हिंसक बनाने से नहीं चूकते।इसके बाद चढूनी का एक वीडियो सामने आया, जिसमें वह यह कहते हुए सुनाई दिए कि जब आइजी ने यह बात कही तो उन्हें बहुत शर्म आई। यानी वह आइजी की बात पर मुहर लगाने के साथ ही टिकैत पर भी सवाल उठा रहे हैं कि वह उत्तर प्रदेश के नोएडा और गाजियाबाद में सरकारी दौरे पर आए वहां के सीएम पर इतने मेहरबान कैसे हैं।

टीकरी से शुरू हुआ विरोध, कंडेला की महिला ने आठ मिनट का वीडियो जारी कर कहा चढूनी हमारा नेता नहीं

किसान संगठनों के बीच फूट उस समय अधिक बढ़ गई, जब हिसार के मंडलायुक्त चंद्रशेखर ने एक वीडियो में किसान जत्थेबंदियों के नेताओं द्वारा सरकार से किए गए किसी भी सरकारी कार्यक्रम में बाधा नहीं डालने व किसी नेता का रास्ता न रोकने के वादे से धरनों पर बैठे लोगों को वाकिफ नहीं कराया। टिकैत व चढूनी ने वार्ता के बाद दावा किया था कि सरकार ने उनकी सभी चार मांगे मान ली हैं, लेकिन मंडलायुक्त ने कहा कि सरकार ने दो मांगें मानीं और दो को तकनीकी व कानूनी कारण बताते हुए खारिज कर दिया। साथ ही मंडलायुक्त ने यह भी उजागर कर दिया कि इन किसान नेताओं ने वार्ता का आधा अधूरा सच बाहर निकाला है।राकेश टिकैत ने कहा, चढूनी के निजी विचारों से हमारा मतलब नहीं

उधर, भाकियू नेता गुरनाम सिंह चढूनी के टोहाना मामले में दिए गए बयान से इतर राकेश टिकैत ने आंदोलनकारियों का समर्थन किया है। टिकैत ने कहा कि टोहाना में बबली का विरोध करने वाले तथा जिनके विरुद्ध पुलिस कार्रवाई हुई है, वे सभी किसान संयुक्त मोर्चा के सदस्य हैं। उनकी रिहाई तक हिसार के मैयड टोल पर जाम रहेगा।राकेश टिकैत मैयड टोल पर पहुंच भी गए। चढूनी ने बुधवार को बयान दिया था कि टोहाना में उपद्रव मचाने वालों का हमारे आंदोलन से कोई वास्‍ता नहीं है। इसके बाद टिकैत ने कहा कि चढूनी ने जो बयान दिया है, वह उनका निजी विचार हो सकता है। मैं मैयड टोल पर खाट डालकर बैठ रहा हूं और गिरफ्तार लोगों को रिहा कराकर रहूंगा। बता दें कि देर रात विधायक बबली भी चंडीगढ़ पहुंच गए। उन्होंने उप मुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला व पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष निशान सिंह से मुलाकात की। इस प्रकरण में आज शुक्रवार को सभी की मुख्यमंत्री मनोहर लाल से मुलाकात संभव है।

रक्षामंत्री की 50 हजार करोड़ के प्रोजेक्ट को मंजूरी

अकांशु उपाध्याय   
नई दिल्‍ली। भारत अपनी समुद्री ताकत को बढ़ाने के मकसद से नौसेना के लिए छह एडवांस्‍ड सबमरीन के निर्माण के लिए रिक्‍वेस्‍ट ऑफ प्रपोजल जल्‍द ही जारी करेगा। भारतीय नौसेना द्वारा दिए गए इस प्रपोजल को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की अध्‍यक्षता में डिफेंस एक्‍वजीशन कांउसिल ने अपनी मंजूरी भी दे दी थी। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की अगुवाई में हुई एक बैठक में 50 हजार करोड़ रुपये के इस प्रोजेक्ट को मंजूरी दी गई है। इस प्रोजेक्ट को स्वेदेशी कंपनी मझगांव डॉक्स लिमिटेड और L&T को सौंपा गया है।
आपको बता दें कि भारतीय नौसेना का एक युद्धपोत संध्‍याक आज अपनी सेवा पूरी कर रिटायर हो रहा है। इस जहाज को 40 वर्ष कीसेवा के बाद रिटायर किया गया है। इसकी परिकल्पना पूर्व रियर एडमिरल एफएल फ्रेजर ने की थी। 1978 में इसका निर्माण कार्य शुरू किया गया था। इस जहाज को 26 फरवरी, 1981 को वाइस एडमिरल एमके रॉय द्वारा भारतीय नौसेना में शामिल किया गया था।

गौरतलब है कि भारतीय नौसेना काफी समय से इस प्रयास में जुटी है कि उसका जंगी जहाजी बेड़ा दुनिया में सबसे अव्‍वल हो। इसके लिए जरूरी है कि नौसेना के पास अत्‍याधुनिक तकनीक से लैस जहाज और सबमरीन हों। जिस तरह से भारत के पड़ोसी चीन और उसकी सहायता से पाकिस्‍तान अपनी सैन्‍य क्षमता में इजाफा कर रहा है उसको देखते हुए ये और भी जरूरी हो जाता है।

फाइजर-मॉडर्ना वैक्सीन की मंजूरी से होगी मदद

अकांशु उपाध्याय   

नई दिल्ली। भारतीय आयुध संस्थान केंद्र के निदेशक रणदीप गुलेरिया ने कहा है कि फाइजर और मॉडर्ना की वैक्सीन को मंजूरी देने से न केवल वयस्कों बल्कि बच्चों के वैक्सीनेशन में भी मदद मिलेगी। बुधवार को स्वास्थ्य मंत्रालय के सूत्रों ने संकेत दिया था कि देश में वैक्सीनेशन में तेजी लाने के लिए फाइजर और मॉडर्ना की वैक्सीन को भारत में मंजूरी दी जा सकती है।

स्वास्थ्य मंत्रालय के सूत्रों के मुताबिक दोनों ही वैक्सीन को मंजूरी दिए जाने में भारत उस नजरिए का इस्तेमाल करेगा, जिसे अमेरिका और अन्य उन देशों ने अपनाया है, ये देश इन दोनों वैक्सीन को लगा रहे हैं। एक इंटरव्यू में फाइजर को ब्रिजिंग ट्रायल से छूट देने पर डॉ. रणदीप गुलेरिया ने कहा कि यह न केवल अडल्ट्स बल्कि बच्चों के वैक्सीनेशन में भी देश की मदद करेगा।

उन्होंने कहा कि यह पहले भी किया जा चुका है, जब सरकार ने उन सभी टीकों को आपातकालीन मंजूरी दी थी, जिसे यूएस, यूके और यूरोपिय संघ और विश्व स्वास्थ्य संगठन ने मंजूरी दे रखी है। ऐसे में मुझे लगता है कि जल्द ही हमारे पास बच्चों और वयस्कों दोनों के लिए फाइजर वैक्सीन मौजूद होगी। पहले नियमों में छूट क्यों नहीं दी गई के सवाल पर डॉ. गुलेरिया ने कहा कि पहले हमारे पास उभरते आंकड़ों का सही डाटा नहीं था।

यूरोपीय आबादी पर इसके दुष्प्रभाव हुए थे, ऐसे में आपको सावधान रहना था। पहली बात तो ये है कि आप ज्यादा नुकसान नहीं करना चाहते। यूके और यूएस में बड़ी संख्या में वैक्सीन लगाए जाने के बाद ये साफ हो गया कि इसमें कोई दुष्प्रभाव नहीं थे। दोनों ही जगह अच्छी संख्या में भारतीय रहते हैं। आज हमारे पास विश्वस्तर का पर्याप्त डाटा है जिससे हम इन वैक्सीन को मंजूरी दे सकते हैं।

कलह दूर करने के लिए 3 घंटे तक वार्तालाप हुई

राणा ओबरॉय   

चंडीगढ़। पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह कांग्रेस की प्रदेश इकाई में चल रही कलह को दूर करने के मकसद से गठित समिति के समक्ष शुक्रवार को पहुंचे और यह मुलाकात करीब तीन घंटे तक चली।

सूत्रों के मुताबिक, कैप्टन सबूत के तौर काफी दस्तावेज ले कर आए थे कि किस तरह उन्होंने विधायकों समेत अन्य नेताओं के अनुरोध पर काम कराया। कैप्टन ने उनको लेकर नेताओं द्वारा की गई शिकायतों का जवाब भी दिया। बैठक के बाद अमरिंदर सिंह ने इस इस मुलाकात का ब्यौरा देने से इनकार किया, हालांकि उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव को मिलकर जीतना है। पार्टी सूत्रों ने बताया कि अमरिंदर सिंह से इस मुलाकात के साथ ही समिति की संवाद करने की कवायद पूरी हो गई। अब वह जल्द ही आलाकमान को अपनी रिपोर्ट सौंपेगी।

100 नेताओं से की गई चर्चा

राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे की अध्यक्षता वाली समिति ने पिछले चार दिनों में, कांग्रेस के पंजाब से ताल्लुक रखने वाले 100 से अधिक नेताओं से उनकी राय ली है. इनमें अधिकतर विधायक हैं। खड़गे के अलावा कांग्रेस महासचिव और पंजाब प्रभारी हरीश रावत तथा दिल्ली प्रदेश कांग्रेस के वरिष्ठ नेता जेपी अग्रवाल इस समिति में शामिल हैं।

गौरतलब है कि हाल के कुछ सप्ताह में मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह और पार्टी नेता नवजोत सिंह सिद्धू के बीच तीखी बयानबाजी देखने को मिली है। विधायक परगट सिंह और प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कुछ अन्य नेताओं ने भी मुख्यमंत्री के खिलाफ मोर्चा खोल रखा है।

आवासहीनो को सर्वसुविधायुक्त आवास की घोषणा

दुष्यंत सिंह टीकम   

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल द्वारा प्रदेश में शहरी गरीब आवासहीनों को सर्वसुविधायुक्त पक्का मकान उपलब्ध कराने की घोषणा पर त्वरित अमल करते हुए 36 हजार 177 आवासों के निर्माण के लिए 1 हजार 188 करोड़ 28 लाख रूपए की स्वीकृति प्रदान की गई है। नगरीय प्रशासन एवं विकास विभाग के प्रस्तावों पर मुख्य सचिव अमिताभ जैन की अध्यक्षता में आज मंत्रालय महानदी भवन में आयोजित राज्य स्तरीय स्वीकृति और निगरानी समिति की बैठक में यह स्वीकृति दी गई। शहरी गरीबों को आवास उपलब्ध कराने की स्वीकृति मिलने पर नगरीय प्रशासन एवं विकास मंत्री डॉ. शिवकुमार डहरिया ने प्रसन्नता व्यक्त करते हुए  मुख्यमंत्री श्री बघेल के प्रति आभार व्यक्त किया है।

बैठक में स्वीकृत किए गए आवासों में नगरीय क्षेत्रों में ”मोर जमीन-मोर मकान“ घटक अन्तर्गत विभिन्न नगरीय निकायों की 138 परियोजनाओं अन्तर्गत 34 हजार 308 आवास निर्माण हेतु 1 हजार 66 करोड़ 18 लाख रूपए एवं रायपुर विकास प्राधिकरण की परियोजना अन्तर्गत 1869 आवास निर्माण के लिए 122 करोड़ 10 लाख रूपए की स्वीकृति प्रदान की गई। योजनान्तर्गत राज्य शासन द्वारा शहरी गरीब आवासहीनों को सर्वसुविधायुक्त आवास देकर उनके जीवन को बेहतर बनाने एवं सामाजिक और आर्थिक स्थिति में बदलाव लाने का प्रयास किया जा रहा है। आवासों के साथ-साथ हितग्राहियों को मूलभूत सुविधाएं, बिजली, पानी, सड़क आदि की सुविधा भी उपलब्ध कराई जाएगी।
बैठक में आवास एवं पर्यावरण विभाग के अपर मुख्य सचिव सुब्रत साहू एवं वित्त एवं नगरीय प्रशासन एवं विकास विभाग की सचिव सुश्री अलरमेलमंगई डी. भी सम्मिलित हुईं।

पत्नी-बच्चे की गला दबाकर हत्या, फिर आत्महत्या

राणा ओबरॉय   

पानीपत। पत्नी की शक की आदत ने एक हँसते खेलते परिवार को खत्म कर दिया l पत्नी के शक करने की आदत से परेशान युवा बाउंसर ने अपने एक साल के बेटे और पत्नी की गला दबाकर हत्या कर डाली और स्वयं भी ट्रेन के आगे कूदकर जान दे दी। दोनों की हत्या के बाद उसने अपने ससुर, जीजा और मालिक के बेटे को कॉल कर वारदात की जानकारी दी थी। जीआरपी ने मामला दर्ज कर बाउंसर के शव और पुलिस ने पत्नी व बच्चे के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा है।

गांव सिवाह निवासी 28 वर्षीय रमेश कादियान उर्फ मैसी दिल्ली में एक प्रॉपर्टी डीलर पद्म पंवार का बाउंसर था। दिल्ली में लॉकडाउन लगने से वह गांव में घर बनवाने के लिए पानीपत आ गया था। डेढ़ माह से वह यहीं पर था। वीरवार की दोपहर करीब दो बजे उसने प्रापर्टी डील पद्म पंवार के बेटे नितिन को कॉल किया। बताया कि बेटे कविश (1) और पत्नी अनु (27) को उसने मार दिया है। अब रेलवे ट्रैक पर आत्महत्या करने के लिए जा रहा है। इसके बाद रमेश ने सोनीपत निवासी अपने जीजा नितिन और ससुर रणबीर को भी कॉल कर यही बातें कहीं। नितिन ने तुरंत ससुर पाले राम को कॉल कर यह सूचना दी। जब वे दूसरे बेटे सुरेश के साथ रमेश के कमरे पहुंचे तो वहां पर बहू और पौत्र की लाश मिली लेकिन रमेश वहां नहीं था। सुरेश ने बताया कि रमेश भागता दिखा तो उसे पकड़ने का प्रयास किया। वह भागकर सिवाह के पास रेलवे ट्रैक पर पहुंच गया। पहले उसे बचा लिया गया लेकिन वह भागकर ईख की फसल में छिप गया। इस बीच आई दूसरी ट्रेन के सामने कूदकर उसने जान दे दी।

संक्रमितो की मौत के आंकड़े स्पष्ट नहीं, तबादला

यूपी प्रशासन ने बृहस्पतिवार को आधी रात के बाद एक दर्जन से अधिक आईएएस अफसरों का तबादला कर दिया गया। ग़ाज़ियाबाद समेत छह जिलों में नए जिलाधिकारी तैनात किए गए हैं। इनके अलावा कुछ कमिश्नर भी बदले गए हैं। शासन स्तर पर भी प्रशासनिक फेरबदल हुआ है। मुख्यमंत्री ने शुक्रवार सुबह तबादला प्रस्ताव को मंजूरी दे दी। इसी श्रंखला में गाजियाबाद के नए डीएम आरके सिंह होंगे। 
अश्वनी उपाध्याय   
गाज़ियाबाद। जिले में शायद ही कोई ऐसा खुशकिस्मत घर हो जिसमें कोरोना संक्रमण की वजह से कोई मौत न हुई हो। हालांकि अब संक्रमण और इससे मरने वालों की संख्या में बहुत कमी आ गई है। कुछ समय हम सभी ने ऐसा समय देखा है जब हर सुबह हमें अपने किसी परिजन की मौत की खबर मिलती थी। अगर हम उस दौर के सरकारी आंकड़ों पर गौर करें तो गाज़ियाबाद में प्रतिदिन संक्रमण के चलते मरने वालों की संख्या एक या दो बार ही दहाई का आंकड़ा पार कर पाई। जबकि इसके ठीक विपरीत गाज़ियाबाद के श्मशान गृहों और कब्रिस्तानों में कोरोना संक्रमितों के परिजनों को अंतिम संस्कार के लिए घंटों इंतजार करना पड़ रहा था। हालत इतनी बदतर हो गई थी कि गाज़ियाबाद नगर निगम को शहर में अस्थाई श्मशान गृह बनाने पड़े थे।

अपुष्ट सूत्रों के अनुसार सरकारी आंकड़ों में कोरोना से हुई मौतों का कारण यह था कि जिलाधिकारी अजय शंकर पाण्डेय ने संबन्धित विभागों के अधिकारियों को मौतें दर्ज न करने के मौखिक आदेश दिए हुए थे। इतना ही नहीं गाज़ियाबाद के हर अस्पताल को तथाकथित रूप से मौखिक आदेश था कि कोरोना संक्रमण से हुई किसी भी मौत की घोषणा बिना जिलाधिकारी की सहमति के न की जाए।  इस बीच मुख्यमंत्री आदित्यनाथ ने घोषणा कर दी कि कोरोना संक्रमण से अनाथ हुए बच्चों की परवरिश के लिए उसके संरक्षक को बच्चे के पालन पोषण के लिए हर महीने 4 हजार रुपए महीना दिया जाएगा। दुर्भाग्य से गाज़ियाबाद के जिलाधिकारी के तानाशाही रवैये के चलते अधिकतर मौतों को सरकारी आंकड़ों में दर्ज ही नहीं किया गया।  ऐसे में आप उस अवयस्क बच्चे से कैसे उम्मीद कर सकते हैं कि वह यह सिद्ध कर पाए कि उसके संरक्षक या घर में कमाने वाले सदस्य कि मौत कोरोना संक्रमण से हुई थी?

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार गाज़ियाबाद के जिलाधिकारी अजय शंकर पाण्डेय का ट्रांसफर हो गया है।  ऐसे में हमारा अनुरोध है कि जिलाधिकारी महोदय, आपके लंबे कार्यकाल में आप ने कोई अच्छा काम किया हो या न किया हो, यह बहस का विषय है। किन्तु कम से कम जाते-जाते तो गाज़ियाबाद का भला करते जाइए।  कम से कम गाज़ियाबाद कि जनता को यह बताते जाइए कि कोरोना संक्रमण से मरने वालों की वास्तविक संख्या क्या है? आपके इस एक कदम से जिले के सैकड़ों परिवारों का भला होगा।

'आप' ने चलाया कोरोना मुक्त अभियान: उत्तराखंड

श्रीराम मौर्य   
काशीपुर। उत्तराखंड से करोना वायरस को जड़ से खत्म करने के लिए आम आदमी पार्टी ने कोरोना मुक्त अभियान शुरू किया है आम आदमी पार्टी ने ‘हर गांव कोरोना मुक्त अभियान’ कार्यक्रम को सफल बनाने के उद्देश्य से पार्टी के कुमाऊं मंडल के तमाम पदाधिकारी आज यहां रामनगर रोड स्थित पार्टी कार्यालय पर एकत्र हुए। इस अवसर पर आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस में पार्टी के प्रदेश उपाध्यक्ष दीपक बाली ने जानकारी देते हुए बताया कि कोरोना से जंग लड़ती उत्तराखंड की जनता के साथ आम आदमी पार्टी पूरी मजबूती के साथ खड़ी हुई हैऔर पार्टी इसे राजनीति से ऊपर उठकर जन कल्याण का कार्य मानती है।प्रदेश के सुदूरवर्ती ग्रामीण क्षेत्रों तक कोरोना से लड़ती जनता को राहत देने के उद्देश्य से पार्टी ने विगत दिवस देहरादून में हर गांव कोरोना मुक्त अभियान की शुरुआत की है ।पार्टी के प्रदेश प्रभारी दिनेश मोहनिया एवं वरिष्ठ आप नेता कर्नल अजय कोठियाल ने हर विधानसभा क्षेत्र के लिए जाने वाली गाड़ियों को हरी झंडी दिखाकर इस कार्यक्रम की शुरुआत की ।श्री बाली ने बताया कि इस कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए पार्टी के 10हजार कार्यकर्ता प्रदेश की जनता की सेवा में दिन-रात जुटेंगे और करीब 6 हजार गांवों के लोगों को लाभ मिलेगा ।इस अभियान के तहत गांवों में ऑक्सीजन जांच केंद्र खोले जाएंगे और ब्लॉक स्तर पर हमारी पार्टी आइसोलेशन सेंटर भी खोलेगी जहां आइसोलेशन बेड़ वऑक्सीजन की सभी व्यवस्थाएं होंगी ।

आप नेता श्रीबाली ने उत्तराखंड की विषम परिस्थितियों और कोरोना महामारी के बावजूद केंद्र सरकार द्वारा एयर एंबुलेंस के प्रस्ताव को ठुकरा दिये जाने की घोर निंदा की और कहा कि डबल इंजन की सरकार भी उत्तराखंड के साथ न्याय नहीं कर पा रही है। इससे पता चलता है कि केंद्र की भाजपा सरकार उत्तराखंड के प्रति कितनी चिंतित है ? उत्तराखंड की जनता को अब भाजपा का वास्तविक चेहरा पहचान लेना चाहिए ।उन्होंने बताया कि कोरोना की तीसरी लहर से निपटने के लिए भाजपा की केंद्र व उत्तराखंड की प्रदेश सरकार भले ही तैयारी में न हो मगर आम आदमी पार्टी जनसेवा के मद्देनजर अभी से तैयारियों में जुटी है और प्रदेश की जनता को भगवान भरोसे नहीं छोड़ सकती। हमारे कार्यकर्ता उन गांवों तक पहुंचेंगे जहां अभी तक सरकार की ओर से कोई मदद नहीं पहुंची है ।जो मेडिकल किट जनता को उपलब्ध कराई जाएगी उसमें ऑक्सीमीटर ,थर्मामीटर सैनिटाइजर दवाइयां मास्क समेत अन्य कई जरूरी उपकरण होंगे।

पार्टी के ही प्रदेश उपाध्यक्ष बसंत कुमार ने बताया कि आम आदमी पार्टी द्वारा हर विधानसभा क्षेत्र में राहत सामग्री लेकर जो गाड़ी जा रही हैं उनमें कोरोना किट व अन्य जरूरी उपकरण है जो हर गांव तक पहुंचाए जाएंगे और कोई भी गांव ऐसा नहीं बचेगा जहां आप कार्यकर्ता कोरोना पीड़ित जनता के पास न पहुंच पाए । उन्होंने कहा कि आम आदमी पार्टी ने संकल्प लिया है कि उत्तराखंड की जनता को कोरोना की तीसरी लहर से पूरी तरह सुरक्षित बचाया जाएगा ।आम आदमी पार्टी उत्तराखंड की जनता को भाजपा की डबल इंजन की सरकार की तरह भगवान भरोसे नहीं छोड़ सकती।प्रदेश उपाध्यक्ष शिशुपाल सिंह रावत ने कहा कि कोरोना महामारी से उत्तराखंड की ग्रामीण जनता डर के साए में जी रही है लेकिन भाजपा की प्रदेश सरकार उसे स्वास्थ्य लाभ देने की बजाय हाथ पर हाथ धरे बैठी है ।
आम आदमी पार्टी केआज के इस कार्यक्रम में पार्टी के अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष डॉक्टर यूनुस चौधरी जसपुर से वरिष्ठ नेता अजय अग्रवाल ,सरदार सूबासिंह नैनीताल के जिलाध्यक्ष संतोष कबडवाल,खटीमा के जिलाध्यक्ष जसपाल सिंह ,काशीपुर के जिलाध्यक्ष मुकेश चावला ,काशीपुर से प्रदेश प्रवक्ता मयंक शर्मा एवं हल्द्वानी से प्रदेश प्रवक्ता समीर टिक्कू जसपुर के संगठन मंत्री अभिताभ सक्सेना काशीपुर के नगर अध्यक्ष मनोज कौशिक तथा महिला मोर्चा की नगर अध्यक्षा श्रीमती उषा खोखर काशीपुर से हर गांव कोरोना मुक्त अभियान के कार्यक्रम के प्रभारी आकाश मोहन दीक्षित ,अमन बाली अमित सक्सेना ,अजयवीर ,लकी माहेश्वरी राजवीर सिंह खोखर एडवोकेट जसपुर से ओम प्रकाश राहुल ठाकुर विकास डंगवाल प्रतापपुर से विपिन चौधरी सहित पार्टी के अनेक पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं ने भाग लिया।

पंजाब में क्या विचित्र राजनीति चल रही है: प्रकाश

अकांशु उपाध्याय  
नई दिल्ली। पंजाब की सत्तारूढ़ कांग्रेस सरकार में चल रही कलह को विचित्र राजनीति करार देते हुए भाजपा ने शुक्रवार को आरोप लगाया कि ऐसे समय में जब पूरा राज्य कोरोना से प्रभावित है, अपनी अंदरूनी राजनीति के लिए वह पंजाब के लोगों की अनदेखी का पाप कर रही है। केंद्रीय मंत्री व वरिष्ठ भाजपा नेता प्रकाश जावड़ेकर ने यहां संवाददाताओं को संबोधित करते हुए कहा, ”पंजाब में क्या विचित्र राजनीति चल रही है? पूरा पंजाब कोरोना से प्रभावित है। वहां टीकों का उचित प्रबंधन नहीं हो रहा है। जांच और अन्य पहलुओं पर भी सरकार का जैसा ध्यान होना चाहिए वह नहीं हो रहा है।” उन्होंने कहा कि ऐसे समय में राज्य में पिछले छह महीने से उनकी आपसी लड़ाई चल रही है और पिछले तीन-चार दिनों से तो पूरी सरकार और पार्टी दिल्ली में है। उन्होंने कहा, ”वहां पंजाब को कौन देखेगा? अपनी अंदरूनी राजनीति के लिए पंजाब के लोगों की अनदेखी करना कांग्रेस का बड़ा पाप है।
ज्ञात हो कि पंजाब कांग्रेस में चल रही कलह को दूर करने के लिए पार्टी के शीर्ष नेतृत्व ने राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे की अध्यक्षता में एक समिति गठित की है। इस समिति ने पिछले चार दिनों में पंजाब से ताल्लुक रखने वाले 100 से अधिक नेताओं से उनकी राय ली है। इनमें अधिकतर विधायक हैं। पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह शुक्रवार को समिति की बैठक में पहुंचकर अपनी बात रखेंगे। ऐसी संभावना है कि वह कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी के साथ डिजिटल बैठक भी कर सकते हैं।

गौरतलब है कि हाल के कुछ सप्ताह में मुख्यमंत्री और नवजोत सिंह सिद्धू के बीच तीखी बयानबाजी देखने को मिली है। विधायक परगट सिंह और प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कुछ अन्य नेताओं ने भी मुख्यमंत्री के खिलाफ मोर्चा खोल रखा है। सिद्धू ने मंगलवार को इस समिति से मुलाकात कर अपने विचार रखे थे। जावड़ेकर ने पंजाब सरकार पर कोरोना रोधी टीकों पर भी लाभ कमाने का आरोप लगाया और कहा कि राहुल गांधी को दूसरों को भाषण देने के बजाय कांग्रेस शासित राज्यों में हो रहे ऐसे कामों पर ध्यान देना चाहिए।

उन्होंने दावा किया कि पंजाब की जनता को कोवैक्सीन टीकों की एक खुराक के लिए 1500 रुपये तक चुकाने पड़ रहे हैं। भाजपा नेता ने कहा कि आज तक भारत सरकार ने राज्यों को 22 करोड़ टीके मुफ्त दिए हैं। उन्होंने कहा, ”इन्होंने (कांग्रेस नेताओं) ही टीकों के विकेंद्रीकरण की मांग उठाई थी और जब हमने कर दिया तो वह इसे केंद्रीयकृत करने की मांग उठा रहे हैं। हर रोज इनकी भूमिका बदलती रहती है।” उन्होंने कहा कि राज्य सरकार को कोरोना के प्रबंधन पर ध्यान देना चाहिए। उन्होंने कहा, ”यही मांग है ओर लोगों की अपेक्षा भी।”

चोकसी को लेने गया दल 7 दिन बाद वापस लौटा

नई दिल्ली। भगोड़े हीरा कारोबारी मेहुल चोकसी को डोमिनिका से वापस लाने के लिए भारत की तरफ से भेजा गया विभिन्न एजेंसियों के अधिकारियों का दल कतर एयरवेज के निजी विमान से वापस लौट रहा है। सूत्रों ने यह जानकारी दी। उल्लेखनीय है कि चोकसी के वकीलों ने डोमिनिका उच्च न्यायालय में बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका दाखिल की थी। वहां के उच्च न्यायालय ने बृहस्पतिवार को चोकसी की याचिका पर सुनवाई स्थगित कर दी थी। जिसके बाद विमान ने तीन जून को स्थानीय समयानुसार रात 8.09 बजे डोमिनिका के मेलविले हॉल हवाईअड्डे से उड़ान भरी। 
सार्वजनिक रूप से उपलब्ध उड़ान मार्ग की जानकारी के अनुसार विमान मैड्रिड की ओर उड़ान भर रहा है। सूत्रों ने बताया कि विभिन्न एजेंसियों के अधिकारियों का दल भी लौट रहा है। सीबीआई के उप महानिरीक्षक शरद राउत के नेतृत्व वाला अधिकारियों का दल 13,500 करोड़ रुपये के पंजाब नेशनल बैंक घोटाले में वांछित चोकसी को भारत वापस लाने की खातिर करीब सात दिन तक डोमिनिका में रहा। चोकसी के वकीलों ने डोमिनिका उच्च न्यायालय में बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका दाखिल की थी जिस पर सुनवाई बृहस्पतिवार को स्थगित कर दी गई। किसी गिरफ्तार व्यक्ति को या गैरकानूनी तरीके से हिरासत में बंद व्यक्ति को अदालत में पेश करने का अनुरोध करने के लिए यह याचिका दाखिल की जाती है।

स्थानीय मीडिया में आई खबरों में बताया गया कि मामले पर अगली सुनवाई करीब एक महीने बाद हो सकती है तथा इस दौरान चोकसी डोमिनिका में ही रहेगा। ‘एंटीगुआ न्यूज रूम’ के अनुसार, न्यायाधीश बर्नी स्टीफेन्सन चोकसी मामले में दोनों पक्षों से मुलाकात के बाद सुनवाई की अगली तारीख तय करेंगे।

बृहस्पतिवार को सुनवाई वीडियो कॉन्फ्रेंस से की गयी। रोसीयू में उच्च न्यायालय परिसर के बाहर खड़े कुछ प्रदर्शनकारियों के हाथ में तख्तियां दिखीं जिनमें से एक पर लिखा था, ”चोकसी को डोमिनिका कौन लाया?” बुधवार को न्यायाधीश ने चोकसी को मजिस्ट्रेट के समक्ष पेश करने का आदेश दिया था ताकि वह डोमिनिका में अवैध प्रवेश के आरोपों का सामना कर सके। उल्लेखनीय है कि चोकसी 23 मई को रहस्यमयी परिस्थितियों में एंटीगुआ एवं बारबुडा से लापता हो गया था। बाद में उसे डोमिनिका में अवैध प्रवेश करने पर पकड़ा गया था।

ब्लैक फंगस की रोकथाम की नीति पर चिंता जताईं

अकांशु उपाध्याय                 

नई दिल्ली। कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव एवं उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गांधी वाड्रा ने कोरोना संक्रमण के बीच आई ब्लैक फंगस की महामारी की रोकथाम की नीति पर चिंता जताते हुए कहा है कि कोरोना की तरह केंद्र ब्लैक फंगस की महामारी की रोकथाम के प्रति गंभीर दिखाई नहीं दे रहा है। जिसके चलते ब्लैक फंगस के इलाज के इस्तेमाल में इंजेक्शन की अभी तक भी कमी बनी हुई है।शुक्रवार को कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव एवं उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गांधी वाड्रा ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लिखे पत्र में कहा है कि देश में इस समय कोरोना संक्रमण के बीच ब्लैक फंगस यानि म्यूकोर माइकोसिस के मामले तेजी से बढ़े हैं। इस गम्भीर बीमारी से पीड़ित मरीजों के इलाज में इस्तेमाल होने वाला लाइपोसोमाल अम्फोटेरिसिन बी इंजेक्शन नहीं मिल रहा है। बड़ी संख्या में लोग इस दवा के लिए गुहार लगा रहे हैं। 

हाल ही में इंदौर की एक बच्ची का उसके पिता के लिए इंजेक्शन उपलब्ध कराने की गुहार वाला वीडियो देखकर सबको बहुत दुख हुआ है। अभी दिल्ली में सेना के दो अस्पतालों में भर्ती सैनिकों को ब्लैक फंगस के इलाज में इस्तेमाल होने वाले इस इंजेक्शन की कमी की खबर आई है। समय की माँग है कि इस सम्बंध में पीएम त्वरित निर्णय लें जिससे लोगों की जान बचाई जा सके। प्रियंका गांधी ने कहा है कि इस बीमारी को लेकर केंद्र सरकार का रवैया इसकी गम्भीरता के अनुरूप नहीं रहा है। मरीजों की संख्या के हिसाब से राज्यों को उपलब्ध कराए गए इंजेक्शन की संख्या बेहद कम है। देशभर में 22 मई तक इस फंगल बीमारी से पीड़ित मरीजों की संख्या 8848 बताई गई थी। इसके बाद 25 मई को मरीजों की संख्या बढ़कर 11,717 हो गई। सिर्फ तीन दिन में ही 2869 मरीज बढ़ गए। म्यूकोर माइकोसिस जैसी बीमारी जिसमें 50 फीसदी तक मृत्यु दर होती है। इसको लेकर लापरवाही नहीं की जा सकती। प्रियंका 

गांधी वाड्रा ने कहा है कि ब्लैक फंगस के इलाज में इंजेक्शन पर ही लाखों रुपयों का खर्च आ रहा है। यह इंजेक्शन अभी आयुष्मान योजना के तहत भी कवर नहीं हो रहा है। प्रियंका गांधी वाड्रा ने पीएम से आग्रह किया है कि इस बीमारी के इलाज को आयुष्मान योजना के दायरे में लाया जाए या इसके इंजेक्शन की आपूर्ति मरीजों को निशुल्क कराई जाए। प्रियंका गांधी वाड्रा ने पीएम से सवाल किया है कि क्या कारण है कि 25 मई के बाद से केंद्र सरकार ने ब्लैक फंगस के मरीजों की संख्या नहीं बताई है। जबकि केंद्र सरकार राज्यों को कितने इंजेक्शन भेज रही है इसकी सूचना लगातार सार्वजनिक कर रही है। जब कोरोना मरीजों की संख्या बताई जा रही है तो ब्लैक फंगस मरीजों की संख्या क्यों नहीं बताई जा रही है? प्रियंका गांधी वाड्रा ने कहा है कि जानकारी से जागरूकता फैलती है और लोग सचेत हो जाते हैं। इस बीमारी से पीड़ित मरीजों की संख्या की जानकारी लोगों को हर रोज उपलब्ध कराई जाए। सरकार मरीजों की बढ़ती संख्या के आधार पर इस इंजेक्शन का उत्पादन और उपलब्धता बढ़ाये ताकि इस गंभीर बीमारी से पीड़ित लोगों को भटकना न पड़े।

जुलाई के तीसरे सप्ताह में होंगी 10वीं की परिक्षाएं

बेंगलुरू। कर्नाटक सरकार ने शुक्रवार को घोषणा की कि एसएसएलसी या 10वीं की परीक्षाएं जुलाई के तीसरे सप्ताह में होंगी। जबकि कोविड-19 के मद्देनजर ‘प्री-यूनिवर्सिटी एग्जाम’ (पीयूएस) की द्वितीय वर्ष की परीक्षाएं रद्द कर दी गईं। ‘प्री-यूनिवर्सिटी’ के दूसरे वर्ष के कॉलेज छात्रों को अगले स्तर पर प्रोन्नत कर दिया जाएगा। पहली ‘प्री-यूनिवर्सिटी परीक्षा’ में उनके प्रदर्शन के आधार पर दिए जाएंगे। कर्नाटक के प्राथमिक एवं माध्यमिक शिक्षा मंत्री एस सुरेश कुमार ने एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, ” ‘सेकंडरी स्कूल लीविंग सर्टिफिकेट’ (एसएसएलसी) के गणित, विज्ञान और सामाजिक विज्ञान के लिए एक बहुविकल्पीय प्रश्न पत्र और भाषाओं के लिए एक और प्रश्न पत्र होगा।” उन्होंने बताया कि बहुविकल्पीय प्रश्न पत्र 40 अंक के होंगे, इनके सवाल सीधे एवं स्पष्ट होंगे और कोई भी घुमावदार सवाल नहीं होगा।

एस सुरेश कुमार ने कहा कि कोविड-19 से प्रभावित छात्रों के लिए पूरक परीक्षाएं होंगी। इनके परिणाम अगस्त में आएंगे। मंत्री ने बताया कि 6000 केन्द्रों पर परीक्षाएं आयोजित की जाएंगी, जो पिछले साल से दोगुना है। हरेक कमरे में 10 से 12 छात्र ही होंगे। छात्रों के बीच छह फुट की दूरी होगी। एसएसएलसी परीक्षा आयोजित करने का निर्णय इसलिए लिया गया क्योंकि छात्रों के लिए विज्ञान, वाणिज्य और आर्ट्स जैसे अपनी पसंद के विषयों का चयन करना आवश्यक है। 

पीयूसी के संबंध में जानकारी देते हुए उन्होंने कहा, ”हम इस साल पीयूएस की परीक्षाएं आयोजित नहीं कर रहे। अंक जिला स्तर पर पहली ‘प्री-यूनिवर्सिटी परीक्षा’ में उनके प्रदर्शन के आधार पर दिए जाएंगे।” उन्होंने बताया कि जो छात्र अंकों से खुश ना हों वे परीक्षाएं दे सकते हैं, उनकी तारीख की जानकारी जल्द दी जाएगी। मंत्री ने स्पष्ट किया कि मौजूदा हालात को देखते हुए छात्रों के हित में जो भी फैसला लिया गया है, वह उससे संतुष्ट हैं। कर्नाटक में पिछले साल कोविड-19 के डर के बीच एसएसएलसी और पीएसयू की परीक्षाओं का सफलतापूर्वक आयोजन किया गया था।

पीएम को जान से मारने की धमकी, गिरफ्तार किया

अकांशु उपाध्याय             

नई दिल्ली। दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को जान से मारने की धमकी देने वाले शख्स को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। आरोपी ने पूछताछ में बताया कि वह जेल में जाना चाहता है। पकड़े गए आरोपी का नाम सलमान है और उसने पुलिस को फोन कर कहा था कि "मुझे मोदी को मारना है" पुलिस को पता चला कि आरोपी बेल पर जेल से बाहर आया है। उसके खिलाफ पहले से ही को कोई केस दर्ज है। आरोपी ने शुरुआती पूछताछ में बताया कि जेल के अंदर जाने के लिए उसने है कॉल किया था। पुलिस आरोपी से पूछताछ कर रही है कि आखिर वह जेल क्यों जाना चाहता है? जब प्रधानमंत्री को जान से मारने की धमकी का फोन पुलिस को आया तो सब हक्के-बक्के रह गए। मामले को बड़ी गंभीरता से लिया गया पुलिस ने तुरंत ही जांच पड़ताल शुरू कर दी। जांच के बाद पाया कि आरोपी 22 सलमान को खजूरी थाने को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। 

आरोपी हाल फिलहाल में ही जेल से छूटा है। मगर वह फिर से जेल जाना चाहता है। इसलिए उसने प्रधानमंत्री को जान से मारने की धमकी के लिए पुलिस को फोन किया था। गौरतलब है इसी वर्ष जनवरी माह में दिल्ली के एक और शख्स ने पुलिस को कॉल करके प्रधानमंत्री को जान से मारने की धमकी दी थी। इस शख्स ने फोन करते हुए कहा था कि पीएम को मारने के लिए उसे 30 करोड़ रुपये कि सुपारी मिलेगी। पुलिस ने कॉल करने वाले शख्स को हिरासत में ले लिया था। पुलिस ने बताया था कि आरोपी का नाम पिंटू सिंह है और उसकी उम्र 30 वर्ष है। पिंटू कारपेंटर का कार्य करता है। दिल्ली के सागरपुर इलाके में रहने वाला है आरोपी ने नशे में पुलिस को धमकी वाला फोन किया था। संपूर्ण जानकारी करने के बाद पुलिस को पता चला था कि आरोपी की मानसिक हालत ठीक नहीं थी,इसलिए उसका इलाज चल रहा है।

देश को सशक्त बनाना आज भी सरकार का संकल्प

अकांशु उपाध्याय             

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को कहा कि कोविड-19 महामारी के चलते ”आत्मनिर्भर भारत” अभियान की रफ्तार कुछ धीमी जरूर हुई है। लेकिन इस अभियान के जरिए देश को सशक्त बनाना आज भी उनकी सरकार का संकल्प है। वैज्ञानिक और औद्योगिक अनुसंधान परिषद (सीएसआईआर) सोसाइटी की एक बैठक की अध्यक्षता करने के बाद अपने संबोधन में प्रधानमंत्री ने यह भी कहा ”सॉफ्टवेयर से लेकर सैटेलाइट” तक आज भारत दूसरे देशों के विकास को गति दे रहा है और दुनिया के विकास में ”प्रमुख इंजन” की भूमिका निभा रहा है। वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से आयोजित इस कार्यक्रम में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण, वाणिज्य व उद्योग मंत्री पीयूष गोयल, स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन के अलावा अन्य मंत्री और वैज्ञानिक शामिल हुए। 

प्रधानमंत्री ने कहा कि कोविड-19 वैश्विक महामारी पूरी दुनिया के सामने इस सदी की सबसे बड़ी चुनौती बनकर आई है लेकिन इतिहास इस बात का गवाह है कि जब भी मानवता पर कोई बड़ा संकट आया है। विज्ञान ने और बेहतर भविष्य के रास्ते तैयार कर दिए हैं।साल भर के भीतर कोरोना रोधी टीका विकसित करने के लिए वैज्ञानिकों की सराहना करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि यह अप्रत्याशित है और इतनी बड़ी आपदा से देश की जनता को उबारने के लिए एक साल में टीका बना देने का काम का इतिहास में शायद पहली बार हुआ होगा। उन्होंने कहा कि पहले दूसरे देशों में खोज हुआ करती थी तो भारत को कई कई सालों तक उसके लाभ का इंतजार करना पड़ता था लेकिन आज भारत के वैज्ञानिक दूसरे देशों के वैज्ञानिकों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर मानव जाति की सेवा में जुटे हुए हैं और उतनी ही तेज गति से काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा, ”इस असाधारण प्रतिभा से ही देश आज इतनी बड़ी लड़ाई लड़ रहा है।” प्रधानमंत्री ने कहा कि आज भारत, कृषि से अंतरिक्ष विज्ञान, आपदा प्रबंधन से रक्षा प्रौद्योगिकी तक, टीकों से आभासी यथार्थ(वचुर्अल रियलिटी) तक और जैव प्रौद्योगिकी से लेकर बैटरी प्रौद्योगिकी तक हर दिशा में आत्मनिर्भर और सशक्त बनना चाहता है। उन्होंने कहा, ”आज भारत सतत विकास और स्वच्छ ऊर्जा के क्षेत्र में दुनिया को रास्ता दिखा रहा है।

आज हम सॉफ्टवेयर से लेकर उपग्रहों तक दूसरे देशों के विकास को भी गति दे रहे हैं और दुनिया के विकास में प्रमुख इंजन की भूमिका निभा रहे हैं।” उन्होंने कहा कि किसी भी देश में विज्ञान और प्रौद्योगिकी उतनी ही ऊंचाइयों को छूती है, जितना बेहतर उसका उद्योग जगत और बाजार से संबंध होता है। उन्होंने कहा, ”हमारे देश में सीएसआईआर विज्ञान, समाज और उद्योग जगत की इसी व्यवस्था को बनाए रखने के लिए एक संस्थागत व्यवस्था का काम करता है।” सीएसआईआर सोसाइटी विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्रालय के अधीन वैज्ञानिक और औद्योगिक अनुसंधान विभाग का हिस्सा है। इसकी गतिविधियां देश भर की 37 प्रयोगशालाओं और 39 आउटरीच केंद्रों तक फैली हैं। सोसाइटी के सदस्यों में नामचीन वैज्ञानिक, उद्योगपति और वरिष्ठ अधिकारी शामिल हैं। इनकी बैठक सालाना होती है।

‘स्पूतनिक वी’ वैक्सीन का उत्पादन, योजनाओं की पुष्टि

मास्को। रूस में अर्जेंटीना के राजदूत एडुआर्डो जुआन ने जुलाई में कोरोना वायरस (कोविड-19) के खिलाफ ‘स्पूतनिक वी’ वैक्सीन का बड़े स्तर पर उत्पादन शुरू करने को लेकर देश की योजनाओं की पुष्टि की। अप्रैल में रूसी प्रत्यक्ष निवेश कोष (आरडीआईएफ) ने बताया था कि इसने साझेदारों के साथ मिलकर अर्जेंटीना की रिचमंड प्रयोगशाला को कोरोना टीका वकिसित करने की तकनीक के हस्तांतरण पर काम किया है। जुआन ने बताया कि जुलाई में ‘स्पूतनिक वी’ का उत्पादन की योजनाएं बनाई है।” अर्जेंटीना ‘स्पूतनिक वी’ का इस्तेमाल करने और उत्पादन शुरू करने वाला पहला लातिन अमेरिकी देश है। अप्रैल में अर्जेंटीना ने मासिक रूप से रूसी टीके की 40-50 लाख खुराक का उत्पादन करने की योजनाओं की घोषणा की थी। अर्जेंटीना ने इस उत्पादन स्तर को बाद में बढ़ाकर पांच करोड़ खुराक तक करने की उम्मीद जताई थी।

लोगों की मदद: 25 लाख रूपये का डोनेशन किया

कविता गर्ग              

मुंबई। बॉलीवुड अभिनेता विवेक ऑबराय कोरोना संकट के समय लोगों की मदद के लिये आगे आये हैं और उन्होंने कोरोना पीड़ितों की सहायता के लिये 25 लाख रूपये का डोनेशन किया है। कोरोना संकट के समय बॉलीवुड के कई सेलेब्स लोगों की मदद के लिए आगे आ रहे हैं। विवेक ओबेरॉय अक्सर जरूरतमंदों की मदद के लिए खड़े रहते हैं और वह सामाजिक कामों में बढ़चढ़कर हिस्सा लेते हैं।

कोरोना के इस कठिन समय में भी वह मदद के लिए आगे आए हैं। अब विवेक ऑबराय ने कोरोना पीड़ितों की सहायता के लिए फंडरेजर में अपना योगदान दिया है। विवेक ओबेरॉय की डॉ. विवेक बिंद्रा के साथ पहल आई एम ऑक्सीजन मैन इस समय चर्चा में बनी हुई है। विवेक ओबेरॉय ने खुद इसमें 25 लाख रुपये का दान किया है। डॉ विवेक बिंद्रा के साथ विवेक ओबेरॉय यह सुनिश्चित करने की कोशिश कर रहे हैं कि भारत कोविड-19 की तीसरी लहर के लिए पूरी तरह से चिकित्सकीय रूप से सुसज्जित रहे।

विश्व में संक्रमित संख्या-17.20 करोड़ से अधिक हुईं

वाशिंगटन डीसी। विश्वभर में कोरोना वायरस (कोविड-19) का तांडव जारी है और अब तक इससे 17.20 करोड़ से अधिक लोग संक्रमित हो चुके हैं। जबकि 36.98 लाख से ज्यादा लोगों की मौत हो गई है। अमेरिका की जॉन हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी के विज्ञान एवं इंजीनियरिंग केंद्र (सीएसएसई) की ओर से जारी ताजा आंकड़ों के अनुसार दुनिया के 192 देशों एवं क्षेत्रों में संक्रमितों की संख्या बढ़कर 17 करोड़ 20 लाख 21 हजार 452 हो गयी है। जबकि 36 लाख 98 हजार 538 लोगों की इस संक्रमण के कारण मौत हो चुकी है। विश्व में महाशक्ति माने जाने वाले अमेरिका में कोरोना वायरस की रफ्तार थोड़ी धीमी पड़ी है। हालांकि यहां संक्रमितों की संख्या तीन करोड़ 33 लाख 26 हजार 054 हो गयी है और करीब 5.96 लाख लोगों की इस संक्रमण से मौत हो गयी है। दुनिया में कोरोना संक्रमितों के मामले में भारत दूसरे स्थान पर और मृतकों के मामले में तीसरे स्थान पर है। पिछले 24 घंटों में 1,32,364 नये मामले आने के साथ ही संक्रमितों का आंकड़ा बढ़कर दो करोड़ 85 लाख 74 हजार 350 हो गया। 

इस दौरान दो लाख सात हजार 071 मरीज स्वस्थ हुए हैं जिसे मिलाकर देश में अब तक दो करोड़ 65 लाख 97 हजार 655 लोग इस महामारी को मात दे चुके हैं। सक्रिय मामले 77,420 कम होकर 16 लाख 35 हजार 993 रह गये हैं। इस दौरान 2,713 मरीज अपनी जान गंवा बैठे और इस बीमारी से मरने वालों की कुल संख्या बढ़कर तीन लाख 40 हजार 702 हो गयी है। ब्राजील संक्रमितों के मामले में अब तीसरे स्थान पर है।इस देश में कोरोना संक्रमण के मामले फिर से बढ़ रहे हैं और अभी तक इससे 1.68 करोड़ से ज्यादा लोग प्रभावित हुए हैं जबकि 4.69 लाख से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। ब्राजील कोरोना से मौतों के मामले में विश्व में दूसरे स्थान पर है। संक्रमण के मामले में फ्रांस चौथे स्थान पर है जहां कोरोना वायरस से अब तक 57.55 लाख से अधिक लोग प्रभावित हुए हैं जबकि करीब 1.09 लाख मरीजों की मौत हो चुकी है।

कोरोना प्रभावितों के मामले में तुर्की रूस से आगे निकल गया है और यहां कोरोना वायरस से संक्रमितों की संख्या 52.70 लाख से ज्यादा हो गयी है और 47,882 मरीजों की मौत हो चुकी है। रूस में कोरोना संक्रमितों की संख्या 50.40 लाख से अधिक हो गई है और इसके संक्रमण से 1.20 लाख से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है। ब्रिटेन में कोरोना वायरस प्रभावितों की कुल संख्या 45.15 लाख से अधिक हो गयी है और 1.28 लाख से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है। मृतकों के मामले में ब्रिटेन पांचवें स्थान पर है। इटली में कोरोना प्रभावितों की संख्या 42.25 लाख से अधिक हो गयी है और 1.26 लाख से अधिक लाेगों की जान जा चुकी है। कोरोना से प्रभावित होने के मामले में अर्जेंटीना ने जर्मनी को पीछे छोड़ दिया है। अर्जेंटीना में संक्रमितों की संख्या बढ़कर 38.84 लाख से अधिक हो गयी है तथा मृतकों की संख्या 79,873 है। जर्मनी में वायरस की चपेट में आने वालों की संख्या 37.01 लाख से अधिक हो गई है और 89,031 लोगों की मौत हो चुकी है।

स्पेन में इस महामारी से 36.93 लाख से अधिक लोग प्रभावित हुए हैं और 80,049 लोगों की मौत हो चुकी है। कोलंबिया में कोरोना वायरस से 34.88 लाख से अधिक लोग प्रभावित हुए हैं और 90,353 लोगों ने जान गंवाई है। इस बीच ईरान ने पोलैंड को पीछे छोड़ते हुए आगे निकल गया है। ईरान में संक्रमितों की संख्या बढ़कर 29.45 लाख से ज्यादा हो गयी है तथा मृतकों का आंकड़ा 80,658 पहुंच गया है। पोलैंड में कोरोना से 28.74 लाख से अधिक लोग प्रभावित हुए हैं और इस महामारी से 74,075 लोग जान गंवा चुके हैं। मैक्सिको में कोरोना से 24.26 लाख से अधिक लोग संक्रमित हुए हैं और यह देश मृतकों के मामले विश्व में चौथे स्थान पर है जहां अभी तक इस वायरस के संक्रमण से करीब 2.28 लाख लोगों की मौत हो चुकी है। यूक्रेन में संक्रमितों की संख्या 22.68 लाख से अधिक है और 53,015 लोग अपनी जान गंवा बैठे हैं। पेरू में संक्रमितों की संख्या 19.65 लाख के पार पहुंच गयी है, जबकि करीब 1.84 लोगों की जान जा चुकी है।

इंडोनेशिया में भी कोरोना संक्रमण के मामले 18.37 लाख के पार पहुंच गये हैं जबकि 51,095 लोगों की मौत हो चुकी है। नीदरलैंड में कोरोना से अब तक 16.84 लाख से अधिक लोग संक्रमित हुए हैं और यहां इस महामारी से 17,932 लोगों की मौत हो चुकी है। दक्षिण अफ्रीका में कोरोना वायरस से 16.69 लाख से अधिक लोग प्रभावित हुये हैं और 56,601 लोगों की मौत हो चुकी है। चेक गणराज्य में कोरोना से अब तक 16.62 लाख से अधिक लोग प्रभावित हो चुके हैं और यहां इस महामारी से 30,136 लोग जान गंवा चुके हैं। पड़ोसी देश पाकिस्तान में अब तक कोरोना से 9.28 लाख से अधिक लोग संक्रमित हुए हैं और 21,105 मरीजों की मौत हो चुकी है। अन्य पड़ोसी देश बंगलादेश में भी कोरोना वायरस का प्रकोप जारी है। जहां 8.05 लाख से अधिक लोग संक्रमित हुए हैं और 12,724 मरीजों की मौत हो चुकी है। इसके अलावा दुनिया के अन्य देशों में भी कोरोना वायरस के संक्रमण से स्थिति खराब है।

भारत-यूएसए की साझेदारी की संभावनाओं पर चर्चा

अकांशु उपाध्याय               
नई दिल्ली/ वाशिंगटन डीसी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बृहस्पतिवार को अमेरिका की उपराष्ट्रपति कमला हैरिस से बात की तथा भारत-अमेरिका के बीच टीका साझेदारी को और मजबूत करने के लिए जारी प्रयासों एवं कोविड-19 के बाद स्वास्थ्य व आर्थिक क्षेत्र की रिकवरी में योगदान देने की दोनों देशों की साझेदारी की संभावनाओं पर चर्चा की।हैरिस से चर्चा के बाद मोदी ने सिलसिलेवार ट्वीट कर कहा, ”कुछ देर पहले उपराष्ट्रपति कमला हैरिस से मैंने बात की। 
वैश्विक स्तर पर टीका साझा करने के लिए अमेरिकी रणनीति के तहत भारत को टीके की आपूर्ति को लेकर दिए गए आश्वासन की मैं सराहना करता हूं।”
इस दौरान प्रधानमंत्री ने अमेरिका सरकार, कारोबारियों और प्रवासी भारतीयों से मिले सहयोग और एकजुटता के लिए कमला हैरिस का शुक्रिया अदा किया। हैरिस से चर्चा के बाद मोदी ने सिलसिलेवार ट्वीट कर कहा, ”कुछ देर पहले उपराष्ट्रपति कमला हैरिस से मैंने बात की। वैश्विक स्तर पर टीका साझा करने के लिए अमेरिकी रणनीति के तहत भारत को टीके की आपूर्ति को लेकर दिए गए आश्वासन की मैं सराहना करता हूं।” इस दौरान प्रधानमंत्री ने अमेरिका सरकार, कारोबारियों और प्रवासी भारतीयों से मिले सहयोग और एकजुटता के लिए कमला हैरिस का शुक्रिया अदा किया।
उन्होंने एक अन्य ट्वीट में कहा, ”भारत-अमेरिका के बीच टीका साझेदारी को और मजबूत करने के लिए जारी प्रयासों तथा कोविड-19 के बाद स्वास्थ्य व आर्थिक क्षेत्र की रिकवरी में योगदान देने की दोनों देशों की साझेदारी की संभावनाओं पर भी हमने चर्चा की।” इस बीच, अमेरिकी दूतावास की ओर से वरिष्ठ सलाहकार और हैरिस के प्रवक्ता साइमोन सैंडर्स ने एक बयान जारी कर कहा उपराष्ट्रपति ने मोदी सहित चार देशों के नेताओं के साथ कोविड-19 टीकों की वैश्विक आपूर्ति योजना को लेकर बात की। इन टीकों की आपूर्ति भारत सहित विश्व के अन्य देशों में इस महीने के अंत तक की जानी है। चारों नेताओं से बातचीत के दौरान हैरिस ने कहा कि अमेरिका 2.5 करोड़ टीके पहली खेप के रूप में भेजना आरंभ करेगा। 
यह आपूर्ति बाइडन-हैरिस प्रशासन की जून महीने के अंत तक कम से कम आठ करोड़ टीके विभिन्न देशों को भेजने की योजना के तहत की जाएगी। चारों नेताओं ने उपराष्ट्रपति को धन्यवाद दिया और वे इस बात पर सहमत हुए कि वैश्विक हित में कोविड-19 संबंधी चुनौतियों का मुकाबला करते रहेंगे। मोदी के अलावा हैरिस ने मेक्सिको के राष्ट्रपति आंद्रेस मैन्यूएल लोपेज ओब्राडोर, ग्वाटेमामला के राष्ट्रपति अलेजांद्रो गियामट्टी और कैरिबियन समुदाय के अध्यक्ष प्रधानमंत्री कीथ रॉवले से बात की। इस बातचीत के दौरान मोदी ने कहा कि वैश्विक स्वास्थ्य की स्थिति में सुधार के बाद वह भारत में कमला हैरिस के स्वागत को उत्सुक हैं।

अनियंत्रित होकर खेत में पलटीं कार, 2 लोगों की मौंत

आदर्श श्रीवास्तव             

लखीमपुर खीरी। सिसैया कस्बे से ईसानगर की तरफ जा रही तेज रफ्तार कार सड़क पर भूसी पड़ी होने से अनियंत्रित होकर खेत में पलट गई। जिसमें कार सवार दो लोगों की घटना स्थल पर ही मौत हो गई। जबकि कार चालक गंभीर रूप से घायल हो गया। जिसे सीएचसी ईसानगर में भर्ती कराया गया है। सूचना मिलने पर पहुंची पुलिस ने दोनों का शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।

ईसानगर थाना क्षेत्र के गांव वीरसिंहपुर निवासी सोएब पुत्र जमाल 25 वर्ष, अकरम पुत्र अब्दुल मलिक 30 वर्ष व कार चालक गुरुवार की देर रात सिसैया कस्बे से कार में सवार होकर घर वीरसिंहपुर जा रहे थे। तभी सिसैया ईसानगर मार्ग पर क्रेसर के समीप मैला गांव के नजदीक सड़क पर धान की भूसी पड़ी होने के कारण उनकी कार अनियंत्रित होकर कई बार पलटते हुए खेतों में पलट गई। जिसमें शोएब व अकरम की मौके पर ही मौत हो गई। जबकि कार चालक गंभीर घायल हो गया।

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण 

1. अंक-293 (साल-02)
2. शनिवार, जून 05, 2021
3. शक-1984, ज्येठ, कृष्ण-पक्ष, तिथि-एकादशी, विक्रमी सवंत-2078।
4. सूर्योदय प्रातः 05:50, सूर्यास्त 07:11।
5. न्‍यूनतम तापमान -16 डी.सै., अधिकतम-37+ डी.सै.।
6.समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है।
7.स्वामी, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी।
8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102।
9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.-20110
http://www.universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
संपर्क सूत्र :- +919350302745  
                     (सर्वाधिकार सुरक्षित)

दुनिया में सबसे अधिक परेशान देश है 'अमेरिका'

वाशिंगटन डीसी। कोरोना महामारी की शुरुआत के साथ ही दुनिया भर में सबसे अधिक परेशान देश अमेरिका है। वैश्विक मामलों का आंकड़े की लिस्ट में पहले ...