गुरुवार, 16 जुलाई 2020

ब्राज़ीली राष्ट्रपति फिर संक्रमित मिलें

ब्रासीलिया। चीन के द्वारा फैलाये गए वायरस कोविड 19 के कारण हाहाकार मचा हुआ है। ब्राजील में अमेरिका के बाद सबसे अधिक मौतें हो रही हैं। ब्राजील के राष्ट्रपति जेयर बोल्सोनारो ने बुधवार को बताया कि वह अभी भी कोरोना वायरस से संक्रमित हैं। उन्होंने एक दिन पहले ही दूसरा कोविड टेस्ट कराया था। बोल्सोनारो ने कहा कि उन्हें कोई लक्षण नहीं हैं लेकिन फिर भी दोबारा उनकी कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आयी है। उन्होंने बताया कि वह एंटी-मलेरिया ड्रगः हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन  ले रहे हैं, जो कि काम कर रही है। 7 जुलाई को पहली बार हुए थे पॉजिटिवः आपको बता दें कि ब्राजील के राष्ट्रपति बोलसोनारो पहली बार 7 जुलाई को कोरोना संक्रमित पाए गए थे। देश को संबोधित करते हुए उन्होंने बताया कि मैं ठीक हूं लेकिन कल सुबह मैंने फिर से कोरोना टेस्ट कराया। शाम को रिपोर्ट आई जिसमें पाया गया कि मैं अभी भी संक्रमित हूंं। ब्राजील में हो चुकी हैं 75 हजार से अधिक मौतेंः ब्राजील के राष्ट्रपति जेयर बोलसोनारो ने कोरोना की गंभीरता को नहीं समझा, जिसका खामियाजा उनका देश भुगता रहा है। उल्लेखनीय है कि ब्राजील में कोरोना वायरस से पिछले 24 घंटे में 1233 मौतें हुई हैं जिससे इस महामारी से मरने वालों की संख्या बढ़कर 75,366 हो गई है। बता दें कि ब्राजील कोरोना वायरस संक्रमितों के मामले में अमेरिका के बाद दूसरे नंबर पर है। अमेरिका में कोरोना के 34 लाख से अधिक संक्रमित मामले सामने आए है।   


श्रीराम  'निर्भयपुत्र'


अलर्टः फिंगर 4 पर हुई तोपों की तैनाती

नई दिल्ली/ बीजिंग। लद्दाख में तनाव और ज्यादा बढ़ सकता है। चीन के चरित्र और हरकतों को देखकर भारतीय सेना ने लाइन अरुणाचल कंट्रोल पर अपनी तैयारी बढ़ा दी है। पूर्वी लद्दाख में तोपों की तैनाती बढ़ा दी गई है। इस बीच भारतीय सेना के उत्तरी कमान के प्रमुख लेफ्टिनेंट जनरल वाईके जोशी दिल्ली पहुंच गए हैं। हालात बिगड़ने के संकेत इस बात से मिल रहे हैं कि चीन की सेना पैंगोंग में फिंगर-4 से पीछे हटने से इनकार कर दिया है। इधर, LAC पर तनाव के बीच रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह कल से लद्दाख के दौरे पर होंगे।


LAC पर तनाव लंबा चलेगा
चीन की सेना पैंगोंग में पीछे हटने को तैयार नहीं है। फिंगर-4 से हटने को चीन की सेना तैयार नहीं है। चुशूल में दोनों देशों के बीच चौथी कोर कमांडर स्तर की बातचीत हुई थी। यह बातचीत 14 घंटे से ज्यादा चली थी। गलवान, हॉटस्प्रिंग्स और गोगरा से सैनिकों के हटने पर सहमति बनी थी। भारत की मांग है कि चीन के सैनिक इलाके से पूरी तरह से हटें।


भारत सेना अलर्टः भारतीय सेना भी पूरी तरह से तैयार है। चीन की हरकतों को ध्यान में रखते हुए भारत ने पूर्वी लद्दाख में 60 हजार सैनिकों की तैनाती कर दी है। भारत ने भीष्म टैंक, अपाचे युद्धक हेलीकॉप्टर, सुखोई फाइटर जेट, शिनूक और 'रुद्र' युद्धक हेलीकॉप्टर की तैनाती कर दी है। पूूर्वी लद्दाख में भारत ने तोपों की तैनाती बढ़ा दी है।      


सरस 'निर्भयपुत्री'


तुर्की अधिकारियों को भेजना चाहिएः ग्रीस

एथेंस। ग्रीस उन आठ तुर्की अधिकारियों को वापस भेजने के लिए तैयार था जो 15 जुलाई की रात को अलेक्जेंड्रुपोली में एक सैन्य हेलीकॉप्टर के साथ उतरे थे, रेसेप तईप एर्दोगन की सरकार के खिलाफ तख्तापलट की कोशिश नाकाम रही, लेकिन तुर्की के पक्ष के साथ कोई संचार स्थापित नहीं किया जा सका, पूर्व रक्षा मंत्री इवांजेलोस अपोस्टोलिसिस ने बुधवार को ग्रीक ब्रॉडकास्टर मेगा के साथ एक साक्षात्कार में खुलासा किया। ''जब आठ [सर्विसमैन] के साथ हेलीकॉप्टर उतरा, तब भी हेलीकॉप्टर को वापस करने का प्रयास किया गया, लेकिन संचार तुर्की के साथ] खो गए थे," उन्होंने कहा। "जब हेलीकॉप्टर उतरा, तो मैंने [तुर्की के रक्षा मंत्री हुलसी] अकार से संपर्क करने की कोशिश की, क्योंकि मामला बहुत सुचारू रूप से चल रहा था।" जब संचार बहाल किया गया और अकार ने आखिरकार अपोस्टोलकिस को तुर्की अधिकारियों को प्रत्यर्पित करने के लिए कहा, "स्थिति विकसित हो गई थी, वे [अधिकारी] गिरफ्तार कर लिए गए थे, वे शरण प्रक्रिया में प्रवेश कर चुके थे, न्याय में शामिल थे, कुछ भी करने का कोई रास्ता नहीं था। "मंत्री ने समझाया, "उस समय, इस बिंदु पर, उन्हें स्वीकार किए जाने से पहले कुछ संचार करना था ताकि जो किया जाना था, वह हो सके।" अपोस्टोलिक ने यह भी दावा किया कि ग्रीस को जानकारी थी कि वास्तव में ऐसा होने से कुछ घंटे पहले एक तख्तापलट की योजना बनाई जा रही थी और ग्रीक नेशनल इंटेलिजेंस सर्विस (EYP) के प्रमुख ने अकार को चेतावनी दी, जिन्होंने कहा कि उन्होंने इसके बारे में नहीं सुना था। जैसा कि तख्तापलट का प्रयास विकसित हो रहा था, पूर्व मंत्री ने कहा कि उन्होंने अपने तुर्की समकक्ष से संपर्क करने की कोशिश की लेकिन फोन नीचे थे। "हम एर्दोगन के आंदोलनों की निगरानी कर रहे थे, हमें पता था कि वह एक होटल में था और किसी समय हमने एक हवाई जहाज को उसे लेने के लिए जाते देखा था," उन्होंने कहा। एक पूर्व यूनानी सशस्त्र सेना प्रमुख अपोस्टोलकिस ने यह भी स्पष्ट करने से इनकार कर दिया कि क्या ग्रीस को एर्दोगन की मदद के लिए एक हेलीकॉप्टर भेजने के लिए तैयार किया गया था, यदि आवश्यक समझा गया था। “मैं न तो इसकी पुष्टि कर सकता हूं और न ही इससे इनकार कर सकता हूं। अगर कुछ करने की जरूरत है तो संवाद करने का प्रयास किया गया। मुझे लगता है कि हमने इस मुद्दे पर बहुत अच्छा रुख बनाए रखा, ”उन्होंने जवाब दिया।             


साल के अंत तक मिलेंगी 3 करोड़ डोज

मास्को। इस साल के आखिर तक रूस अपनी एक्सपेरिमेंटल कोरोना वायरस वैक्सीन की 3 करोड़ डोज देश में बनाने की तैयारी में है। यही नहीं मॉस्को का इरादा विदेश में इस वैक्सीन की 17 करोड़ डोज बनाने का है। रशिया डायरेक्ट इन्वेस्टमेंट फंड के हेड किरिल दिमित्रीव ने बताया है कि इस हफ्ते एक महीने तक 38 लोगों पर चला पहला ट्रायल भी पूरा हो गया। रिसर्चर्स ने पाया है कि यह इस्तेमाल के लिए सुरक्षित है और प्रतिरोधक क्षमता भी विकसित कर रही है। हालांकि, यह प्रतिक्रिया कितनी मजबूत है, इसे लेकर संशय है। अगले महीने इसे रूस और सितंबर में दूसरे देशों में अप्रूवल मिलने के साथ ही उत्पादन पर काम शुरू हो जाएगा।
मिडिल ईस्ट में होगा तीसरे फेज का ट्रायलः दिमित्रीव ने बताया कि अगस्त में हजारों लोगों के ऊपर तीसरे चरण का ट्रायल होना है। इससे पहले 3 अगस्त तक 100 लोगों पर ट्रायल को पूरा किया जाएगा। उन्होंने कहा है, 'मौजूदा नतीजों के आधार पर हमें भरोसा है कि इसे रूस में अगस्त में अप्रूव कर दिया जाएगा और कुछ और देशों में सितंबर में जिससे यह पूरी दुनिया में अप्रूव होने वाली पहली वैक्सीन बन जाएगी।' उनका कहना है कि तीसरे चरण का ट्रायल रूस के अलावा मिडिल ईस्ट के दो देशों में किया जाएगा। इसके लिए रूस सऊदी अरब से बात कर रहा है। सऊदी से इसके उत्पादन में साथ देने की बात भी की जा रही है। 


शिवांशु 'निर्भयपुत्र'


पेशेंट के संपर्क से 1 फैकल्टी संक्रमित

पंकज कपूर


ऋषिकेश। अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान, एम्स ऋषिकेश में पिछले 24 घंटे में 6 लोगों की कोविड सेंपल रिपोर्ट पाॅजिटिव आई है। जिनमें एक एम्स की फैकल्टी भी शामिल है। संस्थान की ओर से इस बाबत स्टेट सर्विलांस ऑ​फिसर को सूचित कर दिया गया है।


एम्स के जनसंपर्क अधिकारी हरीश मोहन थपलियाल ने बताया कि संस्थान में की गई सेंपलिंग में 6 व्यक्तियों की रिपोर्ट कोविड पॉजिटिव पाई गई है। उन्होंने बताया कि एम्स के एक 39 वर्षीय संकाय सदस्य कोविड संक्रमित पाए गए हैं। वह एसिम्टमेटिक (जिसमें रोग के लक्षण नहीं पाए जाते हैं), बीती 13 जुलाई को ओपीडी में उनका कोविड सेंपल लिया गया था जो कि बृहस्पतिवार को पॉजिटिव आया है, लिहाजा उन्हें कोविड वार्ड में भर्ती कर दिया गया है। बताया गया है कि एम्स फैकल्टी एक कोविड पॉजिटिव स्ट्रोक के पेशेंट के संपर्क में आए थे।


दूसरा मामला रायवाला क्षेत्र का है। रायवाला निवासी एक 37 वर्षीया महिला जिसका बीते मंगलवार को एम्स में कोविड सेंपल लिया गया था, जो कि पॉजिटिव पाया गया है। महिला एसिम्टमेटिक (जिसमें रोग के लक्षण नहीं पाए जाते) है, उसे नजदीकी सीसीसी सेंटर में भर्ती होने की सलाह दी गई है। यह महिला हरिद्वार स्थित एक फैक्ट्री में कार्यरत हैं, हाल ही में इस फैक्ट्री के 7 कर्मचारी कोविड संक्रमित पाए गए हैं।


एक अन्य लालबाड़ा, रुड़की निवासी 52 वर्षीय व्यक्ति पिछले 20 दिनों से स्वास रोग से ग्रसित था। खराब तवियत के कारण बीते मंगलवार को एम्स इमरजेंसी में आए थे, जहां उनका कोविड सेंपल लिया गया व उन्हें आइसोलेशन वार्ड में भर्ती कर दिया गया, पॉजिटिव रिपोर्ट आने पर उन्हें कोविड वार्ड में शिफ्ट कर दिया गया है।


अन्य मामले सत्यम विहार, हरिद्वार के हैं, जिसमें 44 वर्षीय व्यक्ति जो कि तीन दिनों से अस्वस्थ होने के कारण 14 जुलाई को एम्स इमरजेंसी में आए थे, जहां उनका तथा उनकी 17 वर्षीय पुत्री का कोविड सेंपल लिया गया, इसके बाद उक्त व्यक्ति को कोविड आइसोलेशन वार्ड में भर्ती कर दिया गया। बुधवार देरशाम पिता-पुत्री की रिपोर्ट पॉजिटिव पाई गई है, लिहाजा उन्हें एम्स के कोविड वार्ड में भर्ती कर दिया गया है।


एक अन्य मामला जगजीतपुर, हरिद्वार निवासी युवक का है। जिसका बीते मंगलवार को एम्स ओपीडी में कोविड सेंपल लिया गया था, एसिम्टमेटिक इस पेशेंट का रिपोर्ट पॉजिटिव पाई गई है लिहाजा उन्हें कोविड वार्ड में भर्ती कर दिया गया है। गौरतलब है कि युवक की पत्नी बीते सोमवार को कोविड संक्रमित पाई गई थी, जिसका एम्स में उपचार चल रहा है। उन्होंने बताया कि संबंधित मामलों के बाबत स्टेट सर्विलांस ऑफिसर को सूचित कर दिया गया है।             


मेरठ में पीट-पीटकर साधु की हत्या

मेरठ। महाराष्ट्र के पालघर में दो साधुओं की पीट-पीटकर हत्या के मामले ने पूरे देश में हलचल मचा दी थी। अब ऐसा ही एक मामला उत्तर प्रदेश के मेरठ में आया है। यहां शिव मंदिर के साधु की पीट-पीटकर बेरहमी से हत्या कर दी गई है। हत्या का आरोप एक विशेष समुदाय के लोगों पर लगा है। इधर साधु की हत्या का मामला अब तूल पकड़ा और शव को सड़क पर रखकर प्रदर्शन शुरू हो गया। पुलिस ने कहा है कि आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है।
घटना मेरठ के भावनपुर की है। अब्दुलापुर बाजार में एक शिव मंदिर हैं। बताया जा रहा है कि मंदिर में ही गांव के कांति प्रसाद की दुकान थी और वह मंदिर कमिटी के उपाध्यक्ष भी थी। वह मंदिर की साफ-सफाई के साथ पुजारी का काम भी देखते थे।
भगवा गमछे को लेकर हुआ विवाद
बताया जा रहा है कि कांति गले में भगवा रंग का गमछा डालते थे और पीले रंग के कपड़े पहनते थे। सोमवार को कांति गंगानगर में बिजली का बिल जमा करने गए थे। आरोप है कि लौटते समयय ग्लोबल सिटी के पास गांव के ही अनस कुरैशी उर्फ जानलेवा ने कांति के भगवा गमछे को लेकर कथित धार्मिक टिप्पणी की और मजाक बनाया।


मजाक का किया विरोध तो बीच सड़क पर पीटा
अनस के मजाक करने का कांति ने विरोध किया, जिसके बाद दोनों के बीच बहस हो गई। आरोप है कि अनस ने कांति की सड़क पर ही जमकर पिटाई की और भाग गया। वहां से कांति किसी तरह गांव पहुंचे और अनस के घर जाकर उसकी हरकत की शिकायत की।
घर में शिकायत करने पहुंचा साधु तो फिर हुई पिटाई
कांति अनस के घर पर थे तभी पीछे से वह आ गया। आरोप है कि अनस ने एक बार फिर से अपने घरवालों के साथ मिलकर कांति की फिर से जमकर पिटाई की और वहां से बाइक लेकर भाग गया। कांति के परिजनों को जब उनकी पिटाई की सूचना मिली तो वे लोग उन्हें लेकर थाने पहुंचे। यहां उनकी हालत बिगड़ गई।
इलाज के दौरान हुई मौत
घरवालों कांति को लेकर अस्पताल पहुंचे जहां मेडिकल कॉलेज में इलाज के दौरान कांति की मौत हो गई। कांति प्रसाद की तहरीर पर पुलिस ने अनस के खिलाफ धार्मिक टिप्पणी करने, मारपीट और जान से मारने की धमकी देने के मामले में एफआईआर दर्ज कर ली। मंगलवार को इलाज के दौरान कांति की मौत हो गई।





आरोपी को किया गया गिरफ्तार




साधु की मौत की सूचना पर कई हिंदू संगठन थाने पर पहुंचे और हंगामा करने लगे। मामला बढ़ने पर पुलिस ने अनस को गिरफ्तार कर लिया। एसओ संजय कुमार ने कहा कि अनस को गिरफ्तार करके जेल भेज दिया गया है, अन्य आरोपियों की तलाश की जा रही है। तनाव को देखते हुए गांव में फोर्स तैनात कर दी गई।             


जमातियों ने मानी गलती, 275 पर जुर्माना

आदिल अहमद


नई दिल्ली। दिल्ली में कोरोना काल के दौरान मरकज़ से पकडे गए विदेशी जमातियो ने अपनी गलतियों को कबूल किया और अदालत ने इन 275 जमातियो पर सजा के बतौर आर्थिक जुर्माना लगाया है।


मिले समाचारों के अनुसार मरकज मामले में साकेत कोर्ट ने करीब 275 से ज्यादा विदेशी जमातियों को सजा सुनाई है। विदेशी जमातियों को टिल राइजिंग कोर्ट यानी एक दिन कोर्ट रूम में खड़ा रहने की सजा सुनाया गई है। सभी विदेशी जमातियों पर 5 से 10 हजार रुपए जुर्माना लगाया गया है। विदेशी जमातियों ने कोर्ट के सामने अपनी गलती मानी और कबूल किया की उनसे कोरोना महामारी नियमों की अवहेलना हुई है।


इतना ही नहीं, फॉरेन एक्ट, डिजास्टर मैनेजमेंट एक्ट, और IPS की कई धाराओं की अवहेलना हुई है। ये सभी विदेशी जमाती, चाइना, नेपाल, इंडोनेशिया, विजी, आस्ट्रेलिया और बाकी अन्य देशों से मरकज़ में शामिल होने भारत आए थे।                 


परीक्षा परिणाम में एसआरबीएस का दबदबा

अनुपम राज


वाराणसी/चंदौली। चंदौली जनपद के ख्याति प्राप्त शिक्षण संसथान एसआरवीएस का सीबीएसई रिजल्ट में जलवा कायम रहा। कल दोपहर आए परिणामो में इस विद्यालय के कई छात्र छात्राओं ने अपनी सफलता का परचम लहरा कर जहा अपने माँ बाप का नाम रोशन किया वही अपनी शिक्षण संसथान को भी अग्रणी रखा।


कल आप परिणामो में सर्वाधिक एसआरवीएस शिक्षण संसथान के प्रवीण कुमार ने 95।2 फीसद अंक प्राप्त कर जिले में अपना स्थान उच्च रखा। वही इसी शिक्षण संस्थान के अमित कुमार मौर्या ने 95 फीसद अंक लाकर खुद का नाम रोशन कर अपने माँ बाप और गुरुजनों को गौरान्वित अहसास करवाया। विद्यालय के अन्य सफल छात्रो जिनको जिले में स्थान मिला में नंदनी सिंह, सौम्य गुप्ता और तुषार जायसवाल है। वही इसी विद्यालय में निहारिका सिंह, अनामिका तिवारी, गरिमा सिंह, रिद्धि कुमारी, आराधना यादव, रोशन कुमार सिंह, अरिदम राय, प्रवेश केशरी, तृप्ति सिंह, गरिमा सिंह जैसे मेधावी छात्रो ने जिले में अपना स्थान सुरक्षित कर अपना नाम जहा रोशन किया वही अपने परिजनों तथा गुरुजनों का भी नाम रोशन किया।


इस सफलता के श्रेय की बात किया जाए तो सभी छात्र छात्राओं का लगभग एक जैसा ही जवाब था। उन्होंने कहा कि हमारे माता पिता के असीम स्नेह और आशीर्वाद के साथ हमारे गुरुजनों की मेहनत और उनके समर्पण को इस सफलता का श्रेय जाता है। इस सम्बन्ध में एक हिंदी अध्यापिका डॉ ममता सिंह ने हमसे बात करते हुवे कहा कि एक शिक्षक को इससे अधिक प्रसन्नता कहा मिल सकती है कि उसके छात्र-छात्राओं के द्वारा जिले में उच्च स्थान प्राप्त किया जाए।                   


बनारस में एक साथ 40 संक्रमित मिले

फुल मुहम्मद “लड्डू”/ मो0 सलीम


वाराणसी। सुबह-ए-बनारस और नियमो के तहत एक तरफ की खुलती दुकानों के बीच आज सुबह-ए-बनारस ने अपनी अलसाई आँखे खोली ही थी कि कोरोना ने भी शहर में अंगडाई ले डाली और एक एक साथ 40 नए संक्रमण के मामले सामने आने के बाद कोरोना के खौफ ने शहर बनारस को अपने आगोश में ले लिया है।


इसके बाद भी सडको पर बेमतलब टहलने वालो की कमी भी नहीं है। बाज़ार थोड़ी ही सही खुली हुई है। सड़के भले तंग है मगर आप अपनी बाइक से बेमतलब निकल जाए। कोई काम हो न हो सिर्फ घूमना मकसद हो। चंद फुल लेने भी कम से कम तीन किलोमीटर दूर जाये। मगर इसके पहले आप एक बार गौरफरमाए कि हुजुर बनारस में कोरोना संक्रमण के मामलो ने एक हज़ार की तायदात पार कर दिया है।


बहरहाल, साहब जीवन आपका है। आपको सुरक्षित रखना है। हम अपनी खबर को पूरा कर दे रहे है कि यहाँ शहर बनारस जो अपनी मस्ती मौज में चलता रहता है, अब कोरोना के कहर से खौफज़दा हो रहा है। हर रोज नए मरीजों का मिलना बदस्तूर जारी है। आज जुमेरात को सुबह 11 बजे तक आई रिपोर्ट में 40 लोग पॉजिटिव पाए गए है। वाराणसी में इस खतरनाक बीमारी से अबतक कुल 30 लोगों की जान भी जा चुकी है। जिले में कुल कोरोना मरीजों की संख्या 1019 हो गया है। जबकि 491 मरीज स्वस्थ होकर अपने अपने घरों के लिए डिस्चार्ज हो चुके हैं। वर्तमान में एक्टिव कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 498 है।                


नाले का अवैध निर्माण करा रही नपाप

लोक निर्माण विभाग से बिना अनापत्ति प्रमाण - पत्र प्राप्त किए बिना ही नगर पालिका परिषद सरकारी धनराशि का दुरुपयोग कर नाले का करा रही अवैध निर्माण 
मोदी नगर। नगर पालिका परिषद द्वारा गाजियाबाद- मेरठ लोक निर्माण विभाग की भूमि पर विभाग से अनापत्ति प्रमाण - पत्र प्राप्त किए बिना ही मोदी नगर सिकेड़ा रोड से मोदी मन्दिर की नाला निर्माण कराया जा रहा है । जिसे नगर पालिका परिषद अपने दम पर अतिक्रमण व अवैध रूप से नाला निर्माण करवा रही है ? जो कि नियमानुसार नहीं है । 
नगर पालिका परिषद जब तक दूसरे विभाग की भूमि पर निर्माण नहीं करवा सकती है तब तक उस विभाग से अनापत्ति प्रमाण - पत्र प्राप्त न कर लें ।
कार्यालय अधिशासी अभियन्ता, राष्ट्रीय मार्ग खण्ड लो लो0नि0वि0 गाजियाबाद के पत्र पंत्राक 586/ 29 एम दिनांक 31- 03-2015 को अधिशासी अभियन्ता अवधेश कुमार सिंह भदौरिया ने प्रभारी अधिकारी, तहसील दिवस, तहसील मोदी नगर को नगर पालिका परिषद मोदी नगर द्वारा निर्मित राज चौपला वाले पर नैशनल हाईवे एवं पी0 डब्ल्यू 0 डी द्वारा दोहरी नीति अपनाने से भविष्य में होने वाली परेशानी को देखते हुए पूर्व में दिये गये पत्र पर कार्रवाई न होने के संबंध में अवगत कराया गया था तथा एक प्रति लिपि नगर पालिका परिषद मोदी नगर को पत्र की प्रति सहित इस अनुरोध के साथ प्रेषित की थी जिसमें नाला निर्माण हेतु एक समान निति अपनाने के निर्देश दिये गये थे फिर भी नाला निर्माण में नगर पालिका परिषद दोहरी नीति अपना रही है ?<br>
हम आपके संज्ञान में लाना चाहते हैं कि सड़क के मध्य रेखा से राष्ट्रीय राजमार्ग अथवा राज्य राज मार्ग में 75 फुट तथा मेजर डिस्टिक्ट रोड में 60 फुट छोड़ना आवश्यक है । जिसका पालन अवैध नाला निर्माण में नगर पालिका परिषद नहीं करवा रही है ।
ज्ञात रहे कि सड़क की भूमि पर अतिक्रमण एवं निर्माण उत्तर प्रदेश रोड कंट्रोल एक्ट 1964 के विरुद्ध है । जिसके विपरीत लोक निर्माण विभाग ने किसी भी अवैध कब्जा धारक को किसी भी प्रकार का प्रतिवेदन नहीं दिया है ।
संज्ञान के अनुसार प्रमुख अभियन्ता कार्यालय ने प्रमुख अभियन्ताओं को एक सर्कुलर जारी किया है । कि इस प्रकार के किसी भी अवैध निर्माण के लिए स्थानीय लोक निर्माण विभाग सीधे जिम्मेदार होगा । फिर भी अफसरों के उदासीनता के चलते सड़क की भूमि पर लगातार अवैध कब्जे अथवा अवैध निर्माण जारी हैं । 
जनहित में एवं शासन हित में उपरोक्त तथ्यों का संज्ञान लेते हुए वैधानिक कार्रवाई करनी चाहिए । क्योंकि नगर पालिका परिषद नाला निर्माण में सरकारी धन का दुरुपयोग कर रही है ।


मुजफ्फरनगर में नए 25 संक्रमित मिले

भानु प्रताप उपाध्याय


मुजफ्फरनगर। जनपद में कोरोना का कहर जारी है। जनपद में आज कोरोना के 25 और नए मरीज मिलने से हड़कंप मच गया है। जनपद के कस्बा बुढाना पर कोरोना ने आज एक बार फिर से बड़ा हमला बोला है, जहां से पांच नए कोरोना पॉजिटिव मरीज पाए गए हैं। जनपद के कस्बा मोरना से भी आज 7 ओर कोरोना मरीज मिले हैं। शहर के मोहल्ला अग्रसेन विहार से भी एक साथ चार कोरोना पॉजिटिव मरीज पाए जाने से हड़कंप मच गया है। जनपद के लिए आज राहत की एक खबर यह भी है की जनपद में कोरोना के 34 मरीजों को पूरी तरह स्वस्थ होने के बाद बेगराजपुर मेडिकल कॉलेज से छुट्टी दे दी गई है।
प्राप्त जानकारी के मुताबिक जनपद के स्वास्थ्य विभाग को आज दोपहर 493 कोरोना टेस्ट के लिए भेजे गए सैंपल की रिपोर्ट प्राप्त हुई, जिनमें से 17 लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। आज कोरोना पॉजिटिव पाए गए लोगों में 5 लोग जनपद के कस्बा बुढाना के निवासी है, जबकि एक कोरोना पॉजिटिव जनपद के कस्बा शाहपुर में पाया गया है। शहर के मोहल्ला अग्रसेन विहार पर भी कोरोना ने बड़ा हमला बोला है, जहां से आज चार नए कोरोना पॉजिटिव मरीज सामने आए हैं। इसके अलावा उत्तरी सिविल लाइन से एक, वहलना गांव से एक, रामलीला टिल्ला से एक, शहर के मोहल्ला रामपुरी से एक, ओम पैराडाइज से एक तथा मिमलाना रोड से भी एक व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव मिला है। इसके अलावा विकास भवन से भी एक व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव पाया गया है, जिसके बाद विकास भवन में कर्मचारियों के बीच हड़कंप की स्थिति है। देर शाम प्रशासन तक प्रशासन को कुल 564 कोरोना टेस्ट रिपोर्ट प्राप्त हुई, जिनमें 8 ओर कोरोना मरीज मिलने के बाद जनपद में आज मिले कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या 25 हो गई। देर शाम कोरोना पॉजिटिव पाए गए मरीजों में से सात जनपद के कस्बा मोरना जबकि एक कस्बा चरथावल निवासी है। जनपद में आज कोरोना के 34 मरीज पूरी तरह स्वस्थ हो गए हैं, जिसके बाद उन्हें बेगराजपुर स्थित मेडिकल कॉलेज से छुट्टी दे दी गई है। जनपद में अब कोरोना के एक्टिव केसों की संख्या बढकर 151 हो गई।         


बस स्टॉप का ऑनलाइन भूमि पूजन

कोखराज (कौशांबी)। नगरपालिका परिषद भरवारी वार्ड-2 राजासुहेल देव नगर (परसरा चौरहा ) में जल्द ही रोडवेज बस स्टॉप का निर्माण प्रारंभ हो जाएगा। चायल विधायक संजय गुप्ता की पहल पर 5.81 करोड़ की लागत से स्वीकृत इस बसअड्डे का मुख्य मत्री योगी आदित्यनाथ ऑनलाइन 10:30 बजे भूमि पूजन/शिलान्यास किया।
चायल के भाजपा विधायक संजय कुमार गुप्ता ने शासन स्तर पर पहल किया।  अगस्त 2019 में सीएम योगी आदित्यनाथ ने चायल क्षेत्र में रोडवेज बस स्टॉप की स्वीकृति  दी । रोडवेज बस स्टाप के भूमि पूजन सासद विनोद कुमार सोनकर और चायल विधायक सजय गुप्ता प्रयागराज कमीशनर व कौशाम्बी जिलाधिकारी मनीष कुमार वर्मा ने किया । चायल विधायक सजय गुप्ता ने बताया कि 581 लाख 33 हजार की लागत से बनने वाले बस स्टॉप के लिए भरवारी (परसरा) में 5710 वर्गमीटर भूमि मे भरवारी का रोडवेज बस स्टाप बनेगा ।       चायल एस डी एम ज्योति मौर्या .रोडवेज परिवहन के अधिकारीगण , थानाध्यक्ष कोखराज बलराम सिह जिले के अधिकारीगण भाजपा के कार्य कर्ता और भरवारी के सम्मानित लोग मौके पर रहे ।


संतलाल मौर्य


डीएम ने हरेला पर्व की दी शुभकामनाएं

रूद्रपुर। जिलाधिकारी डाo नीरज खैरवाल ने हरेला पर्व पर कैम्प कार्यालय में आम, लीची आदि का पौध लगाकर जनपद वासियो को बधाई दी। उन्होने जनपद वासियो से अपने अपने क्षेत्र में अधिक से अधिक पौध लगाने को कहा। उन्होने कहा कि ज्यादा से ज्यादा फलदार/छायादार पौध लगाये और हरेला पर्व पर हम जनपद को हरा भरा करने और उसे प्रदुषण मुक्त करने की मुहिम चलाये। उन्होने कहा कि प्रयास करना चाहिये कि पेड न काटा जाय।


उन्होने कहा कि जनपद में हरेला पर्व पर 1 लाख 50 हजार पौध रोपण का लक्ष्य रखा गया है। कहा कि जिन स्थानो पर पौध रोपण का कार्य किया गया है उन पौधो की देख रेख सम्बन्धित की होगी ताकि पौधो को जिवित रखा जा सके। कहा कि एक माह बाद सम्बन्धित पौधो की वस्तु स्थिति की रिपोर्ट भी प्रस्तुत करेगें।  मुख्यमंत्री द्वारा ई आॅफिस की एक मुहिम शुरू की गयी है जिसके अन्तर्गत हम अगले हरेला पर्व पर सभी विकास खण्ड स्तर के कार्यालयो को ई आॅफिस से जोड दिया जायेगा। उन्होने कहा कि  कलेक्ट्रेट  व विकास भवन को आगामी 31 दिसम्बर तक ई आॅफिस से जोड दिया जायेगा। ई आॅफिस कार्यप्रणाली लागू होने से जहां विभागीय कार्यप्रणाली में तेजी आयेगी एवं गुणात्मक सुधार होगा वही नागरिक सेवाओं को आॅनलाइन किये जाने से पारदर्शिता तथा जबाव देही में वृद्धि होगी। उन्होने कोविड 19 को देखते हुये सभी से मास्क व दो गज की दूरी अपनाते हुये अधिक से अधिक वृक्ष लगाने की अपील की है। हरेला पर्व पर मुख्य विकास अधिकारी मयूर दीक्षित ने अपने निवास पर कटहल का पौध रोपण कर सभी को हरेला पर्व की शुभकामनाएं दी। उन्होने कहा कि सभी को अपने घर पर या आस पास एक पौध अवश्य लगाना चाहिये जिससे हम पर्यावरण को संतुलित रख सकें। हरेला पर्व पर जनपद के सभी विकास खण्डो में भी पौध रोपण का कार्यक्रम किया गया। इस अवसर पर मुख्य उद्यान अधिकारी एचसी तिवारी आदि उपस्थित थे।               


असम में बाढ से 36 लाख लोग प्रभावित

गुवाहटी। असम में पिछले कईं दिनों से रुक-रुक कर जारी भारी बारिश से राज्य में भीषण बाढ़ के हालात बन गए हैं। बाढ़ की चपेट में आने से अब तक कई लोगों की मौत हो चुकी हैं। असम राज्य आपदा प्रबंधन विभाग की तरफ से गुरुवार सुबह जारी बुलेटिन के अनुसार बुधवार शाम को बाढ़ से दो और लोगों की मौत के बाद राज्य में बाढ़ की चपेट में आ कर मरने वालों की संख्या बढ़कर 68 हो गयी हैं।


विभाग के अनुसार बाढ़ से अब तक 36,42,546 लोग प्रभावित हुए है और लोगों को सुरक्षित स्थानों पर आश्रय प्रदान करने के लिए कई जिलों में 247 राहत शिविर बनाये गए हैं। राज्य के 26 जिले बाढ़ से बुरी तरह प्रभावित है तथा 3,363 गांव और अन्य इलाकों में जल भराव की स्थिति बनी हुयी हैं। राज्य में बहने वाली ब्रह्मपुत्र नदी समेत आठ बड़ी नदियां पांच क्षेत्रों में और कोपीली नदी दो क्षेत्रों में खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं।


राष्ट्रीय आपदा राहत बल (एनडीआरएफ) और राज्य आपदा राहत बल (एसडीआरएफ) के कर्मचारी स्थानीय प्रशासन के साथ मिलकर राहत बचाव के कार्यों में जुटे हुए हैं। कल शाम को 295 लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पंहुचाया गया। राज्य में एनडीआरएफ की तैनाती आठ क्षेत्रों में की गयी है जबकि एसडीआरएफ को 40 हिस्सों में राहत बचाव के कार्यों में लगाया गया हैं।                 


लुटेरे गैंग के 4 सदस्य किए गिरफ्तार


कब्जे से अवैध असलहा, लूट का मोबाइल फोन एवं लूट की नगदी सहित लूट की एक वैगनआर कार बरामद





पकड़े गए अभियुक्त गण अवैध असलहा सहित चोरी और लूट के वाहनों से दिया करते थे एनसीआर-क्षेत्र में लूट-पाट जैसी घटनाओं को अंजाम


फाईज़ अली सैफी
गाज़ियाबाद। जनपद में लूट-पाट जैसी घटनाओं को मद्देनज़र रखते एसएसपी कलानिधि नैथानी ने एक विशेष अभियान चलाया हुआ हैं। जिसके क्रम में क्राइम ब्रांच और थाना खोड़ा पुलिस की संयुक्त टीम ने इस अभियान के अंतर्गत गैंग के सरगना समेत चार लुटेरों को गिरफ़्तार किया हैं। पुलिस को इनके पास से अवैध असलहा, लूट का मोबाइल फोन एवं नगदी सहित लूट की एक वैगनआर कार भी बरामद हुई हैं। पुलिस को पकड़े गए अभियुक्तों ने अपना नाम रिंकू बाटा उर्फ राकेश गिरी पुत्र देवगिरी निवासी थाना पिलखुआ, दूसरे ने शादाब उर्फ सद्दाम पुत्र अनवर सैफी निवासी थाना सिंभावली, तीसरे ने नितिन पुत्र भागमल निवासी थाना बिसरख और चौथे ने नीतू उर्फ कर्ण पुत्र रतन सिंह जाटव निवासी थाना ईकोटेक तृतीय गौतमबुधनगर बताया हैं, जोकि इस गिरोह का सरगना भी हैं।

पुलिस के मुताबिक पूछताछ में पकड़े गए अभियुक्त निशु उर्फ करण और रिंकू उर्फ बाटा ने बताया कि उन्होंने जनपद गौतमबुधनगर के थाना सेक्टर- 49 के एक इलाके से एक स्प्लेंडर मोटरसाइकिल चोरी की थी, जिससे कि अभियुक्त गणों लूट की घटनाओं को अंजाम दे सकें। दरअसल, गत् 8 जून को एचएन-9 से एक चक्की व्यापारी अपनी स्कूटी द्वारा किसी कार्य से जा रहा था कि तभी अभियुक्त निशु उर्फ करण और रिंकू उर्फ बाटा ने अपने अवैध हथियार(पिस्टल) के बलपर व्यापारिक को रोक लिया था। वहीं, दूसरी तरफ अभियुक्त गणों के साथी अभियुक्त नितिन और शादाब दूसरी मोटरसाइकिल से अपने साथियों की मदद के लिए सहयोग में पीछे से सक्रिय थे। इसी दौरान जैसे ही व्यापारी के साथ लूट की घटना को अंजाम देते हुए वहां से गुजर रहे आरक्षी मनोज कुमार ने यह मंजर अपनी आंखों से देखते हुए उसका विरोध किया तो अभियुक्त गणों ने आरक्षी के पैर में एक गोली मार दी और अभियुक्त गण स्कूटी सवार व्यापारी से 5,500 रुपए की नकदी व एक मोबाइल और उसका एक पर्स लूट कर मौके से फरार हो गए।

गौरतलब है कि जैसे ही अभियुक्त गण आगे चले तो वहां उन्हें राजनगर-एक्सटेंशन की गौर कास्टेट सोसाइटी के पास एक वैगनआर कार सवार व्यक्ति अपनी गाड़ी से बाहर निकलकर रोड पर पेशाब करता दिखाई दिया तो चारों अभियुक्त गणों ने उसे अवैध असलहा(पिस्टल) दिखाकर उससे उसकी कार वैगनआर लूट ली तथा अभियुक्त गणों ने अपनी एक स्प्लेंडर मोटरसाइकिल भी वही मौके पर ही छोड़ दी और लूटी हुई वैगनआर कार और अपनी दूसरी मोटरसाइकिल को लेकर मौके से मनन-धाम/बाबू-धाम की ओर फरार हो गए थे। इतना ही नहीं, अभियुक्त गणों ने बताया कि वह चोरी और लूटे हुए वाहनों को हापुड़ निवासी एक मनोज, जोकि एक प्रधान है नामक व्यक्ति को बेचा करते हैं तथा पूर्व में भी ऐसे ही जाने कितने वाहन अब से पहले यह भेज चुके हैं। पुलिस रिकॉर्ड के अनुसार अभियुक्त गणों के विरुद्ध एक दर्जन एवं उससे भी अधिक मुकदमें दर्ज हैं।

एसएसपी कलानिधि नैथानी ने जानकारी देते हुए बताया कि पकड़े गए अभियुक्त शातिर किस्म के अपराधी हैं जिनके विरुद्ध दर्जनभर मुकदमें दर्ज हैं। इतना ही नहीं, उन्होंने बताया कि अभियुक्त गण चोरी और लूट के वाहनों को अपराध करने में इस्तेमाल किया करते थे। हालांकि, अभियुक्त गणों को पकड़ने वाली टीम में क्राइम ब्रांच टीम के निरीक्षक लक्ष्मण वर्मा, संजय पांडे, वरिष्ठ सिपाही राजेंद्र सिंह, पंकज कुमार, बलिंदर बालियान, सिपाही मनोज कुमार, विपिन कुमार, खुर्शीद कुमार, वहीं दूसरी ओर थाना खोड़ा पुलिस की संयुक्त टीम के प्रभारी निरीक्षक संदीप कुमार, वरिष्ठ उपनिरीक्षक मधुर श्याम, उपनिरीक्षक विपिन कुमार, पंकज कुमार, सचिन कुमार, सिपाही सचिन मलिक और सिपाही पवन कुमार मौजूद रहे हैं। एसएसपी कलानिधि नैथानी ने गिरफ़्तार करने वाली इन टीमों को 25 हज़ार रुपए का पुरस्कार देने की घोषणा की हैं।



नीति आयोग द्वारा अधिकारियों की बैठक

अश्वनी उपाध्याय, पालूराम


गाज़ियाबाद। मेरठ मंडल के जनपद मेरठ, गाज़ियाबाद, गौतमबुधनगर एवं बागपत में कोविड-19 महामारी को दृष्टिगत रखते हुए सभी जन सामान्य को कोरोना वायरस के संक्रमण से सुरक्षित बनाने, कोरोना पीड़ित मरीजों का कोविड-19 प्रोटोकॉल के अनुरूप यथा समय इलाज संभव कराने तथा संभावित करोना मरीजों की खोज के संबंध में जीडीए के सभागार में नीति आयोग भारत सरकार के माननीय सदस्य विनोद कुमार की अध्यक्षता में सभी को पूर्ण के संक्रमण से सुरक्षित करने के उद्देश्य से आगे की कार्य योजना के संबंध में महत्वपूर्ण बैठक आहूत की गई हैं।
आयोजित महत्वपूर्ण बैठक में अपर मुख्य सचिव चिकित्सा स्वास्थ्य एवम् परिवार कल्याण अमित मोहन प्रसाद के द्वारा प्रदेश स्तर पर कोविड-19 महामारी को लेकर की जा रही कार्रवाई एवं व्यवस्थाओं के संबंध में विस्तार पूर्वक जानकारी उपलब्ध कराई गई हैं। उन्होंने बताया कि उत्तर प्रदेश सरकार के द्वारा पूरे भारत में 2 जुलाई से 12 जुलाई तक सर्विलेंस के लिए विशेष अभियान संचालित किया गया हैं। जिसमें संभावित कोरोना संक्रमित व्यक्तियों की खोज एवं अन्य बीमारियों के संबंध में डाटा प्राप्त भी किया गया हैं। उन्होंने बताया कि जो भी संभावित कोरोना के व्यक्ति मिले है उनकी तत्काल पूरे प्रदेश में जांच करने के उपरांत पॉजिटिव पाए जाने वाले कोरोना संक्रमित व्यक्तियों को आइसोलेट करते हुए उनका तत्काल इलाज संभव कराया जा रहा हैं।
उन्होंने बताया कि कोविड-19 महामारी को लेकर प्रदेश सरकार निरंतर गंभीरता के साथ कार्यवाही सुनिश्चित कर रही हैं और पूरे प्रदेश में वर्तमान तक 11 लाख कोरोना टेस्टिंग कराई गई हैं, जो अन्य प्रदेशों से बहुत अधिक हैं, जन सामान्य को जागरूक करने के उद्देश्य से पूरे प्रदेश में लगातार कार्यक्रम किए जा रहे हैं, ताकि सभी जन सामान्य को जागरूक करते हुए कोरोना वायरस के संक्रमण से सुरक्षित किया जा सकें। इस अवसर पर अपर मुख्य सचिव ने माननीय सदस्य को एनसीआर के लिए 5 लाख एंटीजन कि भारत सरकार के माध्यम से एनसीआर के जनपदों को उपलब्ध कराने एवम् अनुरोध किया गया ताकि दिल्ली के पास के एनसीआर जिलों में और अधिक तेजी के साथ कोरोना वायरस टिंग का कार्य आगे बढ़ाया जा सकें। बैठक में नीति आयोग के माननीय सदस्य के द्वारा उत्तर-प्रदेश में कोविड-19 महामारी को लेकर किए जा रहे प्रयासों की सराहना की तथा एंटीजन किट भारत सरकार के माध्यम से उपलब्ध कराने के लिए आश्वस्त भी किया गया हैं। इस अवसर पर मेरठ मंडल के कमिश्नर अनीता सी मेश्राम ने कोविड-19 को लेकर मंडल के जनपद गौतमबुधनगर, गाज़ियाबाद, मेरठ एवं बागपत में की जा रही कार्रवाई के संबंध में विस्तार पूर्वक रूप से जानकारी उपलब्ध कराई गई हैं।


उन्होंने बताया कि सभी जनपदों में संक्रमण की ट्रांसमिशन की चेन को तोड़ने के लिए लगातार विशेष प्रयास किए जा रहे हैं। वहीं, दूसरी ओर कोरोना मृत्यु दर को न्यूनतम करने के लिए भी अधिकारियों के स्तर पर विशेष प्रयास जानकारी हैं। उन्होंने कहा कि चारों जनपदों में 1,75,358 कोरोना टेस्टिंग की गई हैं। वहीं, दूसरी ओर विगत 26 जून से 12 जून तक इस कार्य में तेजी लाकर 11,618 कोरोना टेस्टिंग की गई हैं, वहीं 2 जुलाई से 12 जुलाई तक चलने वाले विशेष सर्विलांस अभियान के अंतर्गत 32 लाख 78 हज़ार 871 सर्वे का कार्य भी सुनिश्चित किया गया हैं। जिसके तहत चारों जनपदों में 14,333 कोरोना संदिग्ध व्यक्तियों की खोज की गई हैं।


उन्होंने बताया कि इन जनपदों में 772 कोविड हेल्प टेक्स्ट स्थापित हैं तथा 2, 277 गांव एवं शहरों में मोहल्ला निगरानी समिति कार्य कर रही हैं। नीति आयोग के माननीय सदस्य के द्वारा चारों जनपदों के जिलाधिकारियों से भी कोविड-19 महामारी के संबंध में फीडबैक प्राप्त किया गया हैं। जिलाधिकारी गाज़ियाबाद के द्वारा माननीय सदस्य को अवगत कराया गया है कि जनपद में अत्यंत गंभीर मरीजों के लिए दिल्ली जैसी सुविधाएं जनपद में उपलब्ध नहीं हैं और यहां के मरीज दिल्ली में जाने पर वहां के चिकित्सालयों में उनका इलाज नहीं किया जा रहा हैं। माननीय सदस्य के द्वारा इस बिंदु पर बहुत ही गंभीरता के साथ विचार किया गया है और भारत सरकार के माध्यम से कार्रवाई करने के लिए आश्वस्त भी किया गया हैं। इसी प्रकार उन्होंने लोनी एवं खोड़ा व दिल्ली से सटे हुए होने के कारण वहां पर कोविड-19 को लेकर एकरूपता के साथ कार्रवाई करने के लिए भी माननीय सदस्यों को अवगत कराया गया हैं।बैठक में अन्य जनपदों के जिला अधिकारियों द्वारा भी अपने-अपने जनपद में कोविड-19 महामारी को लेकर की जा रही कार्रवाई के संबंध में विस्तार पूर्वक रूप से जानकारी उपलब्ध कराई गई हैं। आयोजित महत्वपूर्ण बैठक में एनसीआर के जनपदों के संबंध में सभी अधिकारियों के कार्यो की सराहना की गई हैं और आगे भी इसी क्षमता के साथ कार्य करने की अपेक्षा की गई हैं। उन्होंने अंत में अपने उद्बोधन मैं कहा है कि करोना महामारी से जन सामान्य को सुरक्षित करने के उद्देश्य से जनता के सहयोग से इस कार्यक्रम को आगे बढ़ाया जाए और इसे पैनिक ना करते हैं, जनता को जागरूक करने के लिए विशेष जागता कार्यक्रम संचालित किया जाए। दूसरी ओर उन्होंने कोविड-19 प्रोटोकॉल के अनुरूप ही सभी अस्पतालों में इलाज करने का आवाह्न किया ताकि सभी मरीज यथा समय एक होकर अपने घर पहुंच सकें। अंत में जिला अधिकारी अजय शंकर पांडे ने माननीय सदस्य एवं सभी अधिकारियों का धन्यवाद किया हैं।              


गाजियाबाद में नकली दवाइयों का जखीरा

अश्वनी उपाध्याय


गाज़ियाबाद। गोविंदपुरम स्थित मून फार्मा पर खाद्य सुरक्षा एवं औषधि विभाग ने छापामारी कर नकली दवा के 243 डिब्बे बरामद किए हैं। पकड़े गए माल की कीमत बाज़ार में पौने पांच लाख रुपए बताई जा रही है। इस छापेमारी की सूचना से दवा व्यापारियों में हड़कंप मच गया है।


औषधि निरीक्षक अनिरूद्ध कुमार ने बताया कि प्रदेश मुख्यालय से सूचना मिली थी कि गोविंदपुरम स्थित मून फार्मा में नकली दवा का कारोबार हो रहा है। सूचना मिलने के बाद सहायक आयुक्त औषधि मेरठ मण्डल वीरेंद्र कुमार के नेतृत्व में टीम ने जब छापा मारा तो उन्हें मौके पर नकली दवा के 243 डिब्बे बरामद हुए। टीम के मुताबिक नकली दवा अमोकसी मून सीवी 625 ग्राम के 243 डिब्बे थे, जिसकी बाजार में कीमत करीब पौने पांच लाख रुपए बताई जा रही है।


औषधि निरीक्षक टीम ने बताया कि हमें अमोकसी मून नाम की गुणवत्ता को लेकर शिकायत की गई थी। शिकायत मिलने दवाई का नमूना राजकीय प्रयोगशाला में भेजा गया था। जांच में दवा नकली पाई गई, जिसके बाद शासन से छापेमारी के आदेश किए गए। स्थानीय औषधि निरीक्षक अनिरुद्ध कुमार व बागपत औषधि निरीक्षक वैभव बब्बर संयुक्त रुप से उक्त मेडिकल फर्म पर छापेमारी के दौरान शामिल थे। उन्होंने बताया कि अमोकसी मून सीवी 625 ग्राम यूरिन व दूसरे इंफेक्शन में यूज की जाती है। एक डिब्बे में करीब 100 गोलियां हैं। जबकि एक पत्ते की कीमत करीब 196 रुपए अंकित है। इस मामले में मून फार्मा के संचालक विपिन कुमार अग्रवाल के खिलाफ भी कार्रवाई की जाएगी।               


लापता विक्रम त्यागी की सूचना पर इनाम

अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। 26 जून से लापता चल रहे बिल्डर विक्रम त्यागी की सूचना देने वाले व्यक्ति को गाज़ियाबाद पुलिस की ओर से 50 हजार रुपए का इनाम मिलेगा। एसएसपी कलानिधि नैथानी ने बताया कि सूचना देने वाले का नाम और पहचान भी गुप्त रखी जाएगी।  राज नगर एक्सटेंशन की केडीपी ग्रांड सवाना सोसायटी में रहने वाले विक्रम त्यागी अंतिम बार 25 जून को पटेल नगर में देखे गए थे। उनकी खून से सनी कार मुजफ्फरनगर में मिली थी लेकिन विक्रम के बारे में अभी तक कोई जानकारी नहीं मिली है।


वहीं विक्रम त्यागी की बरामदगी को लेकर पुलिस की नाकामी पर लोगों का गुस्सा लगातार बढ़ता जा रहा है। मंगलवार को विक्रम त्यागी की बरामदगी की मांग को लेकर लोग सड़क पर उतर आए थे और उन्होंने पुलिस-प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी की थी। मामले की जानकारी मिलने पर पुलिस अधिकारी मौके पर पहुंचे थे और क्रोधित लोगों को जहां समझा-बुझाकर शांत किया था। उस समय एसपी सिटी मनीष मिश्रा ने मौके पर लोगों को आश्वस्त करते हुए बताया था कि मामले की जांच एसटीएफ को भी सौंप दी गई है। इसके अलावा 10 अन्य टीमें इसके लिए कार्यरत हैं।               


जानिए 'उधम रजिस्ट्रेशन' और उठाएं लाभ

अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। केंद्र सरकार द्वारा आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत एमएसएमई में बदलाव कर इसमें उद्यमियों को रजिस्टर करने के लिए 1 जुलाई से एक अलग पोर्टल शुरू गया है जिसका नाम हैं ‘उद्यम रजिस्ट्रेशन’। इस पोर्टल के माध्यम से नए और पुराने दोनों प्रकार के उद्यम पंजीकृत कराए जा सकते हैं। इस पोर्टल की विशेषता यह हैं कि इसमें केवल आधार नंबर और सेल्फ डिक्लेरेशन के साथ पंजीकरण कर सकते हैं, इसके अलावा इसमें अन्य किसी दस्तावेज की आवश्यकता नहीं होती हैं। इसलिए यह पेपरलेस सुविधा के रूप में उभर सकता हैं। अतः यदि आप एक नए उद्यम हैं तो एमएसएमई के इस नए सिस्टम के तहत रजिस्ट्रेशन करना चाहते हैं तो हमारे इस लेख को पूरा पढ़ें।  


सूक्ष्म, लघु एवं माध्यम आकार के उद्योगों (MSME Industries) के रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया मंत्रालय द्वारा शुरू किए गए पोर्टल www.udyamregistration.gov.in पर की जा रही है। यह पोर्टल कदम-कदम पर इंडस्ट्रीज को गाइड भी करेगा.


उद्यम रजिस्ट्रेशन ऑनलाइन पोर्टल क्या है


हम सभी जानते हैं कि एमएसएमई मंत्रालय ने 1 जून 2020 को निवेश एवं टर्नओवर के आधार पर एमएसएमई के वर्गीकरण के लिए नए मापदंड निर्धारित किये हैं। उसके बाद 26 जून, 2020 को एमएसएमई मंत्रालय द्वारा इसकी विस्तार से अधिसूचना जारी की गई थी। इस अधिसूचना में पंजीकरण की प्रक्रिया को स्पष्ट किया गया था। अब उद्यम रजिस्ट्रेशन नाम से एक अलग पोर्टल बनाया गया हैं. यह पोर्टल एवं इसमें रजिस्ट्रेशन करने की प्रक्रिया 1 जुलाई, 2020 से शुरू गई है।  इस पोर्टल में नए एवं पुराने सभी उद्यम रजिस्ट्रेशन कर सकेंगे।


उद्यम रजिस्ट्रेशन पोर्टल पर ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करने की प्रक्रिया


30 जून 2020 से पहले से पंजीकृत उद्यम 31 मार्च 2021 तक की अवधि के लिए मान्य रहेंगे। इसके बाद के उद्यमों के लिए कोई सीमा का निर्धारण नहीं किया गया है। सबसे महत्वपूर्ण बात यह हैं एक उद्यम केवल एक व्यवसाय के लिए रजिस्टर कर सकता है। इसमें रजिस्ट्रेशन करने की प्रक्रिया इस प्रकार है –



  • सर्वप्रथम आपको उद्यम रजिस्ट्रेशन के अधिकारिक पोर्टल की लिंक पर क्लिक करना होगा।

  • इस वेबसाइट पर पहुँचते ही आपको होम पेज में ‘उद्यम रजिस्ट्रेशन’ सेक्शन में ‘वेलकम टू रजिस्टर हियर’ का विकल्प मिलेगा, जोकि नए उद्यमियों के लिए हैं और दूसरा ‘यू कैन रि – रजिस्टर हियर’ होगा। जोकि पुराने उद्यमियों के लिए होगा।

  • आप अपने अनुसार विकल्प का चयन करें। इसके बाद आप अगले पेज में पहुंचेंगे जहां आपके सामने रजिस्ट्रेशन करने के लिए कुछ जानकारी भरने के लिए कहा जायेगा। उसे भर कर आप सबमिट कर दें। आपका इसमें रजिस्ट्रेशन हो जायेगा।

  • इस अधिकारिक पोर्टल में आपको संपर्क करने के लिए फोन नंबर एवं ईमेल आईडी भी दी गई है। जिसके माध्यम से जो भी जानकारी आपको प्राप्त करना हो आप कर सकते हैं।


उद्यमियों के लिए एमएसएमई मंत्रालय द्वारा दी जाने वाली सुविधाएं


एमएसएमई मंत्रालय ने जिला स्तर और क्षेत्रीय स्तर पर सिंगल विंडो सिस्टम के रूप में एमएसएमई के लिए एक मजबूत सुविधा तंत्र स्थापित किया है। इस सिंगल विंडो सिस्टम के तहत उन उद्यमियों की मदद की जाएगी, जोकि किसी कारण से उद्यम पंजीकरण में दर्ज होने में सक्षम नहीं हैं। यानि कि जिनके पास वैध आधार संख्या नहीं हैं, वे सिंगल विंडो सिस्टम से सम्पर्क कर सकते हैं। ऐसे लोगों को अपने आधार नामांकन रिक्वेस्ट या पहचान, बैंक फोटो पासबुक, वोटर आईडी कार्ड, पासपोर्ट या ड्राइविंग लाइसेंस अपने साथ ले जाना होगा। इसके बाद ही सिंगल विंडो सिस्टम उन्हें आधार नंबर प्राप्त करने के बाद उद्यम के रूप में पंजीकरण करने की सुविधा प्रदान करेगा।


जिला उद्योग एवं उद्यम प्रोत्साहन केंद्र की महत्वपूर्ण भूमिका


जिला स्तर पर उद्यमियों की सुविधा के लिए जिला उद्योग केंद्र (डीआईसी) को जिम्मेदारी दी गई है। इसी तरह एमएसएमई मंत्रालय ने हाल ही में और बाद में भी देश भर में ‘चैंपियन कण्ट्रोल रूम्स’ को उद्यमियों को पंजीकरण में सुविधा प्रदान करने के लिए कानूनी रूप से जिम्मेदार बनाया है। यदि किसी उद्यम के पास पहले से उद्यम रजिस्ट्रेशन नंबर है, तो उसे अपनी जानकारी को उद्यम पंजीकरण पोर्टल में ऑनलाइन अपडेट करना होगा। इसमें उन्हें पिछले वित्तीय वर्ष के लिए आईटीआर और जीएसटी रिटर्न का विवरण और स्वयं के आधार पर आवश्यक अन्य अतिरिक्त जानकारी देनी हो सकती हैं।


सूक्ष्म, लघु एवं माध्यम उद्यमियों एमएसएमई की नई परिभाषा


आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने सभी सेक्टर के लिए कई फैसले लिए उन्हीं में से एक था एमएसएमई की नई परिभाषा। इसके लिए आवश्यक दिशा निर्देशों बनाने के बाद इसे जून माह से लागू किया जाना था, किन्तु अब इसे 1 जुलाई, 2020 से लागू किया गया है।  एमएसएमई की नई परिभाषा को निम्न श्रेणी के आधार पर समझाया गया है –



  • सूक्ष्म उद्यम  इस श्रेणी के उद्यम में प्लांट, मशीनरी एवं उपकरण में निवेश 1 करोड़ रुपये से अधिक नहीं होता हैं, और सालाना टर्नओवर 5 करोड़ रुपये से अधिक नहीं होता है।

  • लघु उद्यम इस श्रेणी के उद्यम में प्लांट, मशीनरी एवं उपकरण में निवेश 10 करोड़ रुपये तक होता हैं और सालाना टर्नओवर अधिकतम 50 करोड़ रुपये तक होता है।

  • मध्यम उद्यम इस अंतिम श्रेणी के उद्यम में प्लांट, मशीनरी एवं उपकरण में निवेश 50 करोड़ रुपये और सालाना कारोबार 250 करोड़ रुपये तक का होता है।


निवेश की गणना किस तरह से की जाती है


प्लांट, मशीनरी या उपकरण में निवेश की गणना आयकर अधिनियम, 1961 के तहत, दायर की गई पिछले वर्ष की आयकर रिटर्न पर आधारित होती है। इसके अलावा आपको बता दें कि प्लांट और मशीनरी में भूमि, भवन, फर्नीचर और फिटिंग के अतिरिक्त सभी संपत्ति शामिल की जाती है। गुड्स और सर्विस टैक्स आइडेंटिफिकेशन संख्या वाली वे सभी यूनिट्स जोकि एक ही स्थायी खाता संख्या के विरुद्ध लिस्टेड है, उसे सामूहिक रूप से एक उद्यम माना जाता है। इन यूनिट्स का उपयोग सूक्ष्म, लघु या माध्यम उद्यम के रूप में श्रेणी तय करने के लिए, टर्नओवर और निवेश की गणना के लिए किया जाता है।


एमएसएमई में शिकायत निवारण मैकेनिज्म


किसी भी तरह की विसंगति या शिकायत के मामले में, संबंधित जिले के जिला उद्योग केंद्र में महाप्रबंधक उद्यम द्वारा प्रस्तुत उद्यम पंजीकरण की जानकारी के सत्यापन के लिए एक जाँच करेंगे। इसके बाद अधिकारी राज्य सरकार से संबंधित निदेशक या आयुक्त या उद्योग सचिव को आवश्यक रिमार्क के साथ मामले को आगे बढ़ाने के लिए कहेंगे। और फिर अधिकारी उद्यमों को एक नोटिस जारी करेंगे, उन्हें अपने केस को पेश करने का अवसर भी दिया जायेगा। वे निष्कर्षों के आधार पर जानकारी को संशोधित भी कर सकते हैं। साथ ही वे अपने उद्यम पंजीकरण प्रमाण पत्र को रद्द करने के लिए एमएसएमई मंत्रालय को सिफारिश भी कर सकते हैं।


एमएसएमई के वर्गीकरण, पंजीकरण और सुविधा का यह नया सिस्टम बेहद सरल और अभी तक की सबसे फ़ास्ट – ट्रैक, सहज और विश्वव्यापी बेंचमार्क प्रक्रिया साबित हो सकता है, और यह ‘ईज़ ऑफ डूइंग बिज़नेस’ की दिशा में एक क्रांतिकारी कदम भी है।         


साइबर ठगों के निशाने पर गाजियाबाद

अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। तमाम नसीहतों और पुलिस की सतर्कता के बावजूद भी आम जनता साइबर ठगों का शिकार हो ही जाती है। ऐसा नहीं है कि साइबर ठग आपसे ज्यादा समझदार हैं। लेकिन सभी ठग हमारी लालची मानसिकता का लाभ उठाना अच्छी तरह से जानते हैं। ठग, मानव स्वभाव के उस लालची पक्ष को उकसाते हैं जिसमें वह रातों रात अमीर बनने के सपने देखता है या फिर मुफ्त के माल के पीछे भागता है।  


ऐसा ही कुछ हुआ वसुंधरा सेक्टर 4 ए में रहने वाले कौशल किशोर के साथ। चार दिन पहले उन्हें एक फोन आया और कॉल करने वाले ने उन्हें एक बहुत ही लुभावना ऑफर दिया।  ऑफर में भोजन की एक थाली 200 रुपए की बताई गई। ऑफर के अनुसार उन्हें 10 रुपए ऑनलाइन पे करने के बाद बाकी कीमत डिलवरी बॉय को चुकानी थी।  थाली में बताए गए व्यंजनों के हिसाब से थाली की कीमत काफी कम थी और बस फिर क्या था कौशल ने सस्ते के लालच में आकर तुरंत अपने क्रेडिट कार्ड के माध्यम से 10 रुपए का भुगतान कर दिया।      


थोड़ी ही देर में उनके पास एक के बाद एक कर 7 मैसेज आए जिन्हें देखकर उनके होश उड़ गए।  साइबर ठगों ने कौशल किशोर को सस्ती थाली काल लालच देकर उनके खाते से 70 हजार रुपए निकाल लिए। बहरहाल उन्होंने क्रेडिट कार्ड को ब्लॉक करा कर थाने में रिपोर्ट लिखा दी है।  थाना एसएचओ संजीव शर्मा का कहना है कि मामले में रिपोर्ट दर्ज कर कार्रवाई की जा रही है।               


गाजियाबाद एनसीआर का एपिक सेंटर

अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। कुल 3,700 कोरोना संक्रमितों के साथ अब गाज़ियाबाद उत्तर प्रदेश और एनसीआर का एक नया एपीक सेंटर बन गया है। बुधवार को गाज़ियाबाद जिले में 144 नए संक्रमितों की पहचान हुई है। इस अवधि में 30 मरीजों को कोरोना मुक्त होने के बाद विभिन्न अस्पतालों से डिस्चार्ज कर दिया गया है। वर्तमान में जिले में 1407 सक्रिय मरीज हैं।  पिछले 24 घंटों के दौरान गाज़ियाबाद में 2 अलग-अलग अस्पतालों में दो संक्रमितों की मौत हो गई जिनकी पुष्टि करने से स्वास्थ्य विभाग ने इनकार कर दिया है।


क्वारंटाइन सेंटरों का है बुरा हाल


गाज़ियाबाद में स्वास्थ्य विभाग द्वारा चलाए जा रहे क्वारंटाइन सेंटरों का हाल काफी बुरा है।  यहाँ भर्ती मरीज सोशल मीडिया के माध्यम से अपना दुख दुनिया को बता रहे हैं।  अधिकतर सेंटरों में सफाई की व्यवस्था नहीं के बराबर है। भर्ती मरीजों द्वारा शेयर की जा रही वीडियो से पता चलता है कि टायलट में पानी उपलब्ध नहीं है जबकि नालियाँ चोक हो चुकी हैं और उनका गंदा पानी वार्डों में फैला हुआ है। हज हाउस में बने क्वारंटाइन सेंटर में भर्ती एक मरीज ने बताया कि यहाँ पैकेट बंद खाना दिन में सिर्फ दो बार मिलता है और वह भी ठंडा होता है।  टायलेट में पानी की व्यवस्था नहीं है, पीने और नहाने आदि के लिए नगर निगम ने एक टैंकर लाकर खड़ा किया हुआ है जिस से दिन भर पानी टपकता रहता है।


अत्यंत दबाव में काम कर रहा है सरकारी तंत्र  


चाहे वह क्वारंटाइन सेंटर हों या फिर कोविड स्पेशल अस्पताल, सभी जगह मरीजों का भारी दबाव है।  विदित तथ्य है कि गाज़ियाबाद जिले में स्वास्थ्य सुविधाओं का पहले से ही बुरा हाल था। सरकारी अस्पतालों में डॉक्टरों और सपोर्ट स्टाफ की संख्या बहुत कम है। ऐसे में हर दिन बढ़ते कोरोना संक्रमितों के कारण सरकारी स्वास्थ्य तंत्र बेहद दबाव में काम कर रहा है


मिले होम क्वारंटाइन की सुविधा   


ज़्यादातर कोरोना संक्रमितों और उनके परिजनों की मांग है कि गाज़ियाबाद में भी दिल्ली की तरह ही होम क्वारंटाइन की सुविधा मिले।  अर्बन जिला होने के कारण जिले के अधिकतर लोग कोरोना और उससे बचाव के तरीके जानते हैं और मरीज को एक अलग कमरे में रखकर उसकी देखभाल करने में सक्षम हैं। जो परिवार मरीज की देखभाल नहीं कर सकते हैं, उनके लिए सरकारी और निजी अस्पताल मौजूद हैं।


क्वारंटाइन सेंटरों के डर से नहीं करा रहे हैं टेस्ट


जिले में बहुत से व्यक्ति ऐसे भी है जिनमें कोरोना के लक्षण स्पष्ट दिखाई दे रहे हैं लेकिन उन्हें डर है कि यदि उनका रिजल्ट पॉज़िटिव आता है तो प्रशासन उन्हें सरकारी क्वारंटाइन सेंटरों में भेज देगा जहां की हालत बहुत अच्छी नहीं है।  ऐसे में यदि प्रशासन होम क्वारंटाइन की अनुमति दे देता है तो संभव है कि ज्यादा से ज्यादा लोग स्वेच्छा से कोरोना टेस्ट कराने के लिए सामने आएंगे।


दिल्लीः झुग्गी बस्ती में आग 70 झुग्गी राख

नई दिल्ली। देश की राजधानी दिल्ली में एक बार फिर बड़ा हादसा हुआ है। राजधानी के शाहबाद डेयरी इलाके में बुधवार देर रात भीषण आग लग गई। इस आग की चपेट में आकर 70 झुग्गियां जलकर राख हो गईं। हालांकि, इस दुर्घटना में अब तक किसी के हताहत होने की सूचना नहीं है।


गौरतलब है कि बुधवार देर रात करीब 11.26 बजे दमकल विभाग को एक सूचना मिली कि शाहाबाद में भयानक आग लग गई है, आग तेजी से फैल रही है और झुग्गियों को अपने हाथ में ले लिया है। जिसके बाद 26 वाहनों के साथ दमकल विभाग की टीम मौके पर पहुंची और राहत और बचाव कार्य शुरू किया। करीब ढाई घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद शाहाबाद में लगी आग पर दोपहर करीब 2 बजे काबू पाया गया।


फिलहाल कूलिंग ऑपरेशन चल रहा है। बताया जा रहा है कि आग की वजह से 70 झुग्गियां पूरी तरह से जलकर राख हो गईं। हालांकि, यह राहत की बात है कि इस दुर्घटना में कोई घायल नहीं हुआ है। वहीं, आग लगने का कारण अभी तक साफ नहीं हो पाया है। पुलिस यह पता लगाने की कोशिश कर रही है कि आग कैसे लगी?              


बिना वेतन लंबी छुट्टी करेगा एयर इंडिया

अकांशु उपाध्याय


नई दिल्ली। लॉकडाउन की मार सबसे ज्यादा एअर लाइंस कंपनियों पर पड़ी है। आर्थिक संकट से जूझ रही कंपनियां खर्च कम करने के लिए नए-नए तरीके ढूंढ रही हैं। अब एअर इंडिया ने कर्मचारियों की संख्या कम करने का प्लान बनाया है। इस प्लान के तहत कर्मचारी बिना वेतन के लंबी छुट्टी पर जा सकते हैं। इसे लीव विदाउट पे कहा गया है। यह छुट्टी 6 महीने से लेकर 5 साल तक हो सकती है।


मिली जानकारी के मुताबिक कंपनी के चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्टर राजीव बंसल को अधिकार दिया गया है कि वह कुछ कर्मचारियों को अनिवार्य रूप से बिना वेतन के 6 महीने से लेकर 5 साल तक की छुट्टी पर भेज सकते हैं। कर्मचारियों को उनकी दक्षता, क्षमता, प्रदर्शन की गुणवत्ता, कर्मचारियों का स्वास्थ्य आदि के आधार पर चयन किया जाएगा कि किन्हें छुट्टी पर भेजा जाए।


एअर इंडिया के इस प्लान को बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स की 102वीं बैठक में मंजूरी दी गई। ऑर्डर के मुताबिक, हेडक्वार्टर और रीजनल हेड को कहा गया है कि वे इस प्लान के मुताबिक कर्मचारियों के नाम मुख्यालय को भेजें।


लखीमपुर में टिड्डी दल ने डाला डेरा

रिपोर्ट-फारूख हुसैन 

लखीमपुर खीरी। जिले में कल टिड्डी दल ने बहराइच के रास्ते प्रवेश किया है। जिसके चलते किसानों में दहशत दिखाई देने लगी है किसान अपनी फसलों को बचाने के लिए लगातार प्रयास करते दिखाई देने लगे हैं। आपको बता दें ये टिड्डियों का दल लगभग 5 किलोमीटर लंबा बताया जा रहा है इस  दल ने पहले धौरहरा के नरसिंगपुर गांव में एक धान के खेत मे टिड्डी दल ने हमला भी किया है जिससे किसान की धान की फसल पूरी तरह से बेकार हो गयी जिले की 3 तहसीलों में टिड्डी दल पहुँचा है धौरहरा, निघासन,पलिया जिसके बाद से शासन प्रशासन अलर्ट मोड पे आ चुका है किसान भी काफी टिड्डियों को लेकर जागरूक हैं फिलहाल बाइकों की आवाजें, थाली और बाजो के सहारे टिड्डियों को भगा रहे हैं जिलाधिकारी ने टिड्डियों को लेकर  क्रषि विभाग की कई टीमें भी लगाई है वो टीमें रात को भी निगरानी रख रह है टिड्डी दल के आने से किसानों की चिंता बढ़ा दी है ।

 लेकिन उधर किसानों का कहना है हम लोग रात रात जगते है टिड्डियो से अपनी फसल बचाते हैं उनको थाली और बाजे के माद्यम से भगाते है कोई क्रषि विभाग की टीम भी मेरे यहाँ नही पहुँची है।

हालात अधिक कष्ट दायक और दुर्गम होंगे

नई दिल्ली। गांव और शहरों के बेरोजगारों हो या विदेश से अपने देश में वापस रोजगार छूटने के कारण लौटे लोगों की व्यथा हो, यह एक गंभीर और जटिल समस्या बनने वाली है। कई देशों में पहले से ही बेरोजगारी व्यापक पैमाने पर फैली हुई है। गांव के युवा रोजगार की तलाश में शहरों में अपने लिए अवसर की तलाश कर ही रहे थे, ऐसे में अगर विदेशों से आए बेरोजगार युवा भी इस भीड़ में शामिल हो गए, तो हालात विकट हो जाएंगे।इन सबको रोजगार मिलना इसलिए कठिन होगा कि आने वाले दिन इस लिहाज से और भी संकटपूर्ण दिख रहे हैं। शहरों में स्थिति जहां बेहद मुश्किल होने वाली है, वहीं हालात के मारे गांव लौटे लोग अब गांव में ही किसी तरह अपना गुजारा करना चाह रहे हैं, लेकिन वहां भी काम बहुत कम और लोग बहुत ज्यादा हो चुके हैं। इसके बावजूद लोग अब शहर की ओर वापस जाने से कतरा रहे है।
व अपने ही गांव में या आसपास के इलाकों में रोजगार की तलाश करने लगे हैं। दूसरी और पलायन से उद्योगों में मजदूरों कमी से एक विकराल समस्या सामने आ खड़ी हुई है। सवाल है कि कोरोना की वजह से जो हालात पैदा हुए हैं, व कब तक काबू में आ सकेंगे और अगर यह लंबा खिंचा तो देश और समाज की दशा क्या होगी!


98 छात्रों को गेहूं चावल का वितरण

ललिता कश्यप


मुजफ्फरनगर। गुरुवार की प्रात कन्या जूनियर हाईस्कूल बुढ़ाना में 98 छात्राओं को राशन सामग्री में गेंहू और चावल बांटा गया। इस दौरान यहां पर छात्राओं के अभिभावकों की भी मौजूदगी रही। जानकारी के मुताबिक कन्या जूनियर हाईस्कूल बुढ़ाना में मिड डे मील खाद्यान्न वितरण आज भी जारी रहा। अब तक कुल 188 छात्र-छात्राओं को खाद्यान्न वितरित किया गया। बीते दिनों 90 और आज 98 छात्र व छात्राओं को गेहूं और चावल निशुल्क वितरित किया गया। अब तक कुल 11 कुंटल 4 किलोग्राम खाद्यान्न वितरित किया गया। इस दौरान स्कूल की पूर्व प्रधानाध्यापिका संतोष कुमारी, सुशील सैनी, मनोज सहरावत, सीमा, सुकेश, पूनम, संगीता जैन, रश्मि गोयल, अरुण कुमार और शिक्षा समिति के अध्यक्ष अशोक कुमार सहित काफी संख्या में अभिभावक रहे।               


10 हजार लीटर कच्ची शराब की नष्ट



जसवीर सिंह हंस


पांवटा साहिब। एसएचओ माजरा की अगुवाई में पुलिस टीम ने मेहतावाला हरिपुर खोल जंगल में की छापामारी। इस दोरान मौके पर 02 कच्ची शराब की भट्टिया पाईँ गई। उनके साथ ड्रमों व एक गढ्डे में करीब 10,000 लीटर लाहण मौजूद पाया गया तथा उनके पास कोई भी व्यक्ति मौजूद न पाया गया।


पुलिस टीम ने  मौका पर दोनो भट्टियों , ड्रमों व गढ्डे में लाहण को नष्ट कर दिया। मामले की पुष्टि करते हुए डी एस पी पावटा साहिब वीर बहादुर ने बताया की सिरमौर के पुलिस अधीक्षक अजय कृष्ण शर्मा के आदेशो के बाद पुलिस ने अवैध शराब  तस्करों के खिलाफ विशेष अभियान चलाया हुआ है तथा तथा पिछले एक महीने में शराब तस्करों के खिलाफ कड़ी कारेवाही की गयी है।




रेपिस्ट प्यारे मियां श्रीनगर से गिरफ्तार

श्रीनगर/भोपाल। नाबालिग लड़कियों के साथ यौन शोषण के आरोपित प्यारे मियां को श्रीनगर से गिरफ्तार कर लिया गया है, पुलिस उसे भोपाल ला रही है। भोपाल साउथ पुलिस अधीक्षक साई थोटा ने प्यारे मियां के कश्मीर से गिरफ्तार होने की पुष्टि की है।

रविवार को नाबालिग लड़कियों के साथ दुष्कर्म की घटना सामने आने के बाद से ही वो फरार था। पुलिस ने प्यारे मियां के ऊपर 30 हजार रुपए का इनाम भी रखा था। इस सूचना के आधार पर भोपाल पुलिस ने श्रीनगर पुलिस के सहयोग से उसे गिरफ्तार कर लिया। दरअसल बता दे कि पुलिस को 12 जुलाई रविवार को 5 नाबालिग लड़कियां संदिग्ध हालत में घूमते मिली थीं, पुलिस ने उनसे पूछताछ की तो पता चला कि प्यारे मियां ने पार्टी करने के लिए बुलाया और शराब पिलाकर उनके साथ दुष्कर्म किया।             

एम्स में नए ओपीडी ब्लॉक का उद्घाटन

नई दिल्ली। एम्स में बृहस्पतिवार से नया ओपीडी ब्लॉक शुरू हो गया। नए ओपीडी में हर दिन 8 से 10 हजार मरीज को देखने की व्यवस्था है। मरीजो को कोई दिक्कत ना हो इसके लिए 40 रजिस्ट्रेशन काउंटर बनाने के साथ ही डिजिटल स्क्रीन लगाया गया है। मरीजो को ओपीडी के बाहर बैठने की भी व्यवस्था है। इस मौके पर स्वास्थ्य मंत्री में कहा कि कोविड के नियंत्रण के मामले के भारत दुनिया के दूसरे देशों के मुकाबले बेहतर है।


अभी देश में 2 फीसद से भी कम लोग आईसीयू में है। 0.32 फीसद लोग वेंटिलेटर पर है। हमारा रिकवरी दर 63.25 फीसद है जबकि मृत्यु दर 2.57 फीसद है। स्वास्थ मंत्री ने कहा कि आने वाले दिनों में देश के एक दिन में कोरोना के 10 लाख टेस्ट होंगे। एम्स में बृहस्पतिवार से नया ओपीडी ब्लॉक शुरू हो गया। इस ब्लॉक का उद्घाटन केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने किया।


अस्पताल प्रशासन के मुताबिक एम्स परिसर में बना यह ब्लॉक मुख्य ब्लॉक से पांच सौ मीटर की दूरी पर है। इसमें मरीजों की सुविधा का ध्यान रखा गया है। इसमें लिफ्ट के साथ स्वचालित सीढि़यां लगी हुई हैं। यहां मरीजों के खाने के लिए भोजनालय भी बनाया गया है। नए ब्लॉक में काम शुरू होने से मुख्य ब्लॉक में भीड़ कम हो जाएगी और शारीरिक दूरी के नियमों का भी पालन हो पाएगा।                      डॉ पी एस शर्मा       


कम कीमत में शानदार स्कोडा कार

नई दिल्ली। कोरोना काल और लॉकडाउन के बाद स्कोडा ऑटो इंडिया ने अपनी बिक्री बढ़ाने के लिए अपनी एक और शानदार कार मार्केट में उतार दी है। हाल ही में कंपनी ने सेडान रैपिड का नया संस्करण रैपिड राइडर प्लस’ बुधवार को जारी किया है। कंपनी ने इसकी कीमत बेहद कम रखी है। साथ ही एडवास फीचर वाली इस कार की लुक से लेकर फीचर्स एक से एक बेहतरीन हैं।


जानकारी के अनुसार, स्कोडा के इस नई कार की शोरूम कीमत 7.99 लाख रुपये से शुरू होती है। कंपनी ने बुधवार को एक बयान में कहा कि नयी रैपिड राइडर प्लस बीएस-6 उत्सर्जन मानकों के अनुरूप तैयार की गयी है। इसमें एक लीटर का पेट्रोल इंजन लगा है। स्कोडा ऑटो इंडिया के ब्रांड निदेशक जैक होलिस ने कहा कि कंपनी ने हाल ही में अपनी नयी रैपिड टीएसआई श्रृंखला पेश की है। इसमें 1.0 टीएसआई पेट्रोल इंजन है। कंपनी का दावा है कि यह गाड़ी एक लीटर पेट्रोल में 18.97 किलोमीटर का फासला तय कर सकती है। इसके अलावा कार में दो एयरबैग, एंटी लॉक ब्रेक प्रणाली, पीछे की तरफ पार्किंग में काम करने वाले सेंसर इत्यादि भी उपलब्ध हैं। कार में बाहर से कुछ काम कराने की भी जरूरत नहीं है।             


 


भ्रष्टाचार के भीष्म पितामह है सीएम नीतीश

पटना। गोपालगंज में सत्तरघाट पुल के अप्रोच पथ में बना पुल धवस्त हो गया है। सीएम नीतीश द्वारा एक महीना पहले ही इस पुल का उदघाटन किया गया था।लेकिन वह पुल पहली बाढ़ में हीं ध्वस्त हो गया। इसके बाद बिहार की राजनीति गरम है।विपक्षी नेताओं ने इस पुल की धंसने की वजह भ्रष्चार बताया है।





नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने एक बार फिर से सीएण नीतीश के साथ-साथ पथ निर्माण मंत्री नंदकिशोर यादव को लपेटे में लिया है। तेजस्वी ने ट्वीट कर कहा है कि 263 करोड़ से 8 साल में बना लेकिन मात्र 29 दिन में ढ़ह गया पुल। संगठित भ्रष्टाचार के भीष्म पितामह नीतीश जी इस पर एक शब्द भी नहीं बोलेंगे और ना ही साइकिल से रेंज रोवर की सवारी कराने वाले भ्रष्टाचारी सहपाठी पथ निर्माण मंत्री को बर्खास्त करेंगे। बिहार में चारों तरफ लूट ही लूट मची है।







तेजस्‍वी यादव ने कहा कि बिहार में जब तक आरसीपी टैक्स के तहत पैसे देकर ट्रांसफर-पोस्टिंग का खेल जारी रहेगा, तब तक ऐसे ही पुल टूटते रहेंगे। नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि इस पुल का निर्माण करने वाली वशिष्ठ कंपनी को न केवल ब्लैक लिस्टेड किया जाए, बल्कि पुल के निर्माण में लगी राशि को भी रिकवरी करने की जरूरत है। तेजस्वी ने कहा कि बिहार में विनाश की गंगा बह रही है, ऐसे में सीएम नीतीश कुमार को जवाब देना चाहिए। नीतीश सरकार में पुल बनाने और टूटने का ट्रेंड शुरू हो चुका है।




2 किलो गांजे के साथ 2 गिरफ्तार किए

प्रदीप उज्जैन


उत्तर-पूर्वी दिल्ली। शाहदरा जिले के कृष्णा नगर थाना पुलिस ने दो गांजे के साथ दो लोगों को गिरफ्तार किया है। पिछले कई दिनों से दिल्ली पुलिस को सूचना मिल रही थी की कुछ लोग इलाके में लगातार गांजे की सप्लाई कर रहे हैं। मुखबिर खास की सूचना के बाद एसीपी गांधीनगर चंद्र प्रकाश मीणा की देखरेख में एसएचओ कृष्णा नगर राजकुमार शाह मैं एक टीम का गठन किया गया. जिसमें एएसआई अशोक, हेड कांस्टेबल सतीश, कॉन्स्टेबल परमवीर व राजेंद्र को शामिल किया गया और मुखबिर खास की बताई गई जगह पर जाल बिछाया गया।


जिसमें दिल्ली पुलिस को बड़ी सफलता मिली और दो गांजा तस्करों को धर दबोचा फिलहाल दिल्ली पुलिस दोनों तस्करों से पूछताछ में जुटी है। कि इन लोगों के तार और कहां-कहां जुड़े हैं।            


बोर्ड एग्जाम: हिंदी में 8 लाख छात्र फेल

अखिलेश जायसवाल


नई दिल्ली/लखनऊ। हिंदी भारत की सामान्य भाषा है। जिसे आमतौर पर सभी जगह इस्तेमाल किया जाता है। इन सब के बाद भी यदि लोग हिंदी में फेल होते है, तो बहुत गंभीर समस्या है। दरअसल हम ऐसा इसलिए कह रहे हैं, क्योंकि यूपी बोर्ड परीक्षा में 8 लाख परीक्षार्थी हिंदी विषय में फेल हो गए है। यूपी में जिस तरह से नतीजे सामने आए है। इससे एक बात तो साफ है कि हिंदी सिर्फ और सिर्फ परीक्षा दिलाने के लिए एक विषय बनकर रह गई।


बता दें कि उत्तर प्रदेश के 10 वीं और 12 वीं के आठ लाख बच्चे हिंदी में फेल हुए है। फेल होने वाले करीब 5 लाख 27 हजार बच्चे 10वीं के और 2 लाख 69 हजार बच्चे 12 वीं के हैं। इस संबध में विशेषज्ञों का कहना है कि यूपी बोर्ड में हाईस्कूल और इंटरमीडिएट का हिंदी पाठ्यक्रम अन्य राज्यों के बोर्ड की तुलना में काफी अलग है.। जिसमें अवधी व ब्रज भाषाओं के कवि, लेखक व उनकी कृतिया शामिल है। विशेषज्ञों का मानना है कि 600 वर्ष पूरानी हिंदी भाषा छात्रों को कठिन लगती है और इसे पढ़ाने के लिए विशेषज्ञों की आवश्यकता होती है। तुलसीदास, कबीरदास, रसखान, मीराबाई के साथ संस्कृत व व्याकरण बच्चों को समझाना आसान नहीं है। दूसरी ओर हिंदी विषय के शिक्षकों की कमी है।








हिंदी भाषा को लेकर कुछ विशेषज्ञ यह भी कहते है कि हिंदी भाषा की गुणवत्ता पर ध्यान देने की आवश्यकता है। इस विषय पर मासिक परीक्षाएं आयोजित की जानी चाहिए। स्कूलों में हिंदी विषय को लेकर सांस्कृतिक आयोजन भी जरूरी है। साथ ही प्रतियोगी परीक्षाओं में हिंदी अनिवार्य कर देनी चाहिए। बता दें कि यूपी बोर्ड 2019 के नतीजे और भी भयावह थे। उस समय करीब 10 लाख बच्चे हिंदी में फेल हुए थे।







कट्टू बैंक का एक गुर्गा किया गिरफ्तार

प्रभाकर राणा


नई दिल्ली। दिल्ली की राजपार्क थाना इलाके में अपराध को रोकने के लिए SHO राजपार्क अशोक कुमार के नेतृत्व में राजपार्क थाना एरिया में लगभग पुलिस बेरिकेडिंग और पुलिस पेट्रोलिंग की जाती है इसी कड़ी में बीती 14 तारीख को मंगोल पूरी के A ब्लॉक रामलाल अखाड़े के पास पेट्रोलिंग कर रहे कांस्टेबल सज्जन और कांस्टेबल सचिन को एक व्यक्ति महँगी बाइक के साथ दिखाई दिया और कुछ शक होने पर ड्यूटी पर तैनात दोनो पुलिसकर्मियों ने उसे रोककर पूछताछ की और बाइक के कागजात की मांग की जो बाइक सवार दिखा न सका जिसके बाद जब मोटरसाइकिल को चेक किया गया तो पता चला कि उपरोक्त बाइक राजौरी गार्डन इलाके से चोरी है। इसके साथ ही जब पुलिसकर्मियों ने बाइक सवार की तलाशी ली तो उसके पास से एक देशी कट्टा और एक जिंदा कारतूस बरामद हुआ।


पकड़े गए आरोपी का नाम आकाश उर्फ़ कट्टू 25 साल है। जोकि एक शातिर अपराधी है और मंगोल पूरी इलाके के A ब्लॉक का ही रहने वाला है। प्राप्त जानकारी के अनुसार आरोपी के माता पिता नही है और ये कसाई का काम करता था जिसकी वजह से इसका नाम कट्टू पड़ गया और जल्द पैसा कमाने और अपने नशे की लत के चलते ये जुर्म की दुनिया मे आ गया और इसने अपने कुछ साथियों विक्की, समशुद्दीन और प्रदीप के साथ कट्टू नाम का गैंग शुरू कर दिया। पूछताछ में इसने पुलिस को बताया कि ये अपने गैंग के साथ मिलकर सुलतानपुरी, KN काट्जू, नार्थ रोहिणी के थाने इलाको में लूटपाट की वारदातों को अंजाम दे चुका है। बरहाल पकड़े गए आरोपी की गिरफ्तारी राजपार्क थाना पुलिस के लिए एक बड़ी कामयाबी है। पुलिस ने इसे आर्म्स एक्ट के तहत गिरफ्तार कर इसके कब्जे से एक चोरी की मोटरसाइकिल, और एक देसी कट्टा समेत एक जिंदा कारतूस भी बरामद कर लूट के कई मामलों को सुलझाने का दावा किया है।


24 घंटे में 32 हजार नए संक्रमित मिलें

नई दिल्ली। भारत में कोरोना वायरस का संक्रमण थमने का नाम नहीं ले रहा है। आज देश में सबसे अधिक साढ़े 32 हजार कोरोना के मरीज सामने आए हैं। इसके साथ ही कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 9 लाख 68 हजार के पार पहुंच गया है।









केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक पिछले 24 घंटे में 32 हजार 695 नए मामले सामने आए हैं, जबकि 606 लोगों की मौत हुई है। इसके बाद देशभर में कोरोना पॉजिटिव मामलों की कुल संख्या 9 लाख 68 हजार 876 हो गई है। जिनमें से 3 लाख 31 हजार 146 सक्रिय मामले हैं। राहत की बात यह है कि इस महामारी से 6 लाख 12 हजार 815 लोग ठीक हो चुके हैं। देश में अब तक 24 हजार 915 लोगों की मौत हो चुकी है।








भारत में वैक्सीन का ह्यूमन ट्रायल शुरू

नई दिल्ली। ऐसे समय जब कोरोना के संक्रमण के मामले देश में तेजी से बढ़ रहे हैं। एक अच्‍छी खबर आई है। भारत की फार्मास्‍युटिकल कंपनी जायडस कैडिला (Zydus Cadila) ने बुधवार को घोषणा की है कि उसकी बनाई डीएनए वैक्‍सीन zycov-D का ह्यूमन ट्रायल प्रारंभ कर दिया है। ट्रायल के तहत पहले मरीज को वैक्‍सीन की खुराक दी गई। ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) की ओर से पिछले माह इसके लिए मंजूरी मिली थी।


कंपनी की ओर से बताया गया कि एक हजार वालंटियर्स के साथ पहले मानव डोज का ट्रायल शुरू किया गया है। जिसमें इन ह्यूमन क्लीनिकल ट्रायल्स के पहले और दूसरे फेज एक के बाद एक पूरे किये जाएंगे। कंपनी की ओर से कहा गया है कि ZYCoV-D, प्लास्मिड डीएनए वैक्सीन सुरक्षित माना गया है। इसके पहले इस कोरोना वैक्सीन के क्लीनिकल ट्रायल में प्रतिरक्षा और इम्युनिटी टेस्ट के अच्छे परिणाम सामने आए हैं। कुछ दिनों पहले ही जायडस कैडिला कंपनी को ह्यूमन ट्रायल की अनुमति प्रदान की गई थी। क्‍लीनिकल ट्रायल रजिस्ट्री- इंडिया (CTRI) के अनुसार, क्‍लीनिकल स्‍टडी दो मानदंडोंपर आधारित है – समावेश और बहिष्करण।


फेस 1 में, कंपनी ने 18-55 वर्ष की आयु के बीच स्वस्थ पुरुषों और महिलाओं (गैर-गर्भवती और गैर स्तनपान) का चयन किया है। वालंटियर्स को ट्रायल की प्रक्रिया का पालन करना पड़ता है और फॉलोअप अवधि के लिए उपलब्ध रहना होता है। इसी क्रम में फेस 2 के लिए, 12 वर्ष या उससे अधिक आयु के किसी भी लिंग के स्वस्थ वालंटियस का चयन किया जाएगा।


29 दिन में बह गया 264 करोड का पुल

छपरा। बिहार में भारी बारिश से हालात बेकाबू होते जा रहे हैं। बिहार के छपरा से सटे गोपालगंज में 264 करोड़ की लागत से बना सत्तरघाट महासेतु पानी के दबाव से ध्वस्त हो गया है। इस महासेतु के ध्वस्त होने से चंपारण तिरहुत और सारण के कई जिलों का संपर्क टूट गया है। इस पुल पर आवागमन पूरी तरह बाधित है। इस बीच आरजेडी नेता तेजस्वी यादव ने पुल के ढहने को लेकर नीतीश सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि यह पुल इसलिए टूटा है क्योंकि इसमें भ्रष्टाचार हुआ है। तेजस्वी ने एक चैनल से बात करते हुए कहा कि इस पुल का पैसा अफसरों से वसूल किया जाना चाहिए।


बता दें कि यह पुल महज 29 दिन के अंदर पानी में बह गया। 16 जून को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने पटना से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से इस महासेतु का उद्घाटन किया था।गोपालगंज को चंपारण से और इसके साथ तिरहुत के कई जिलों से इस महासेतु को जोड़ने का अतिमहत्वकांक्षी पुल था। जिसके निर्माण में करीब 264 करोड की लागत आई थी।गोपालगंज में तीन लाख से ज्यादा क्यूसेक पानी का बहाव था। गंडक के इतने बड़े जलस्तर के दबाव से इस महासेतु का एप्रोच रोड टूट गया। जिसकी वजह से आवागमन बाधित हो गया है। गोपालगंज के बैकुंठपुर के फैजुल्लाहपुर में यह पुल टूटा है। इस महासेतु का निर्माण पुल निर्माण विभाग की ओर से कराया गया था। 2012 में इस पुल का निर्माण शुरू किया गया और 16 जून, 2020 को इस महासेतु का उद्घाटन किया गया।


पुल निर्माण में लापरवाही को लेकर जांच की मांग उठने लगी है। बिहार विधानसभा में नेत प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने इसको लेकर नीतीश सरकार को घेरा है। आरजेडी नेता ट्वीट में कहा, ‘263 करोड़ से 8 साल में बना लेकिन मात्र 29 दिन में ढह गया पुल। बिहार में चारों तरफ लूट ही लूट मची है।’


अगस्त में होगा कांग्रेस अध्यक्ष का चुनाव

अकाशुं उपाध्याय


नई दिल्ली। कांग्रेस पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष के तौर पर सोनिया गांधी का एक साल का कार्यकाल को 10 अगस्त को समाप्त हो रहा है। इसे बढ़ाने के लिए जल्द ही कांग्रेस वर्किंग कमेटी (CWC) की बैठक करनी होगी। पार्टी को अपना निर्णय चुनाव आयोग को 10 अगस्त तक सूचित करना होगा।


हाल ही में कांग्रेस ने आयोग को बताया था कि कोरोना महामारी को रोकने के लिए 25 मार्च से लागू लॉकडाउन के कारण नए अध्यक्ष के चुनाव की प्रक्रिया शुरू नहीं की जा सकी है। आयोग के अधिकारियों का कहना है कि 10 अगस्त तक अध्यक्ष नहीं चुने जाने पर आयोग इस मामले में दखल देगा। निर्वाचन आयोग ने कांग्रेस को नोटिस भेजकर राष्ट्रीय अध्यक्ष के चुनाव को लेकर जानकारी मांगी है। पिछले साल 10 अगस्त को ही सोनिया गांधी ने कार्यकारी अध्यक्ष की जिम्मेदारी संभाली थी। उस समय एक साल के अंदर स्थाई अध्यक्ष चुन लिए जाने की बात आयोग को बताई गई थी. आयोग ने उसी सिलसिले में कांग्रेस से तकाजा किया।


बीते साल लोकसभा चुनाव में कांग्रेस को महज 52 सीटें मिली थीं। इसके बाद हार की जिम्मेदारी लेते हुए राहुल गांधी ने कांग्रेस अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया था। उन्होंने तब कहा था कि वो अध्यक्ष के रूप में काम नहीं करना चाहते, लेकिन पार्टी के लिए काम करते रहेंगे। कांग्रेस के नए अध्यक्ष के लिए पार्टी के कई नेताओं के नाम पर चर्चा होती रही, लेकिन कई दिनों की माथापच्ची के बाद कांग्रेस के अंतरिम अध्यक्ष के तौर पर फिर से सोनिया गांधी को कमान सौंप दी गई। सोनिया गांधी अपने पहले अध्यक्षीय कार्यकाल में बहुत सफल रही थीं।


बिना ड्राइवर के जल्दी कपड़े सुखाए

मनोज सिंह ठाकुर


आपको इंटरव्यू के लिए जाना हो, लेकिन फॉर्मल शर्ट गंदी पड़ी हो, तो आपके पास उसे धोने के अलावा कोई चारा नहीं है, क्योंकि गंदी शर्ट पहला इम्प्रेशन भी गंदा ही देगी। अब आप कहेंगे कि शर्ट धुल तो 5 मिनट से भी कम समय में जाएगी, लेकिन अब उसे जल्दी सुखाएं कैसे? बात तो सही है, जब जल्दी हो, तो कपड़ों को धोने से ज्यादा उन्हें सुखाने का टेंशन होता है। पास में वॉशिंग मशीन न हो, तो यह काम और भी चैलेंजिंग बन जाता है। ऐसे में हम आपके लिए लाए हैं, कुछ काम के ट्रिक्स, जो बिना ड्रायर के ही आपको कपड़े जल्दी सुखाने में मदद करेंगे।
तौलिया
कपड़े को धोने के बाद उसे एक बड़े टॉवल में लपेटें और फिर ट्विस्ट करते हुए उसे निचोड़ें। एक टॉवल गीला हो जाए, तो यही प्रॉसेस दूसरे तौलिये से दोहराएं। तौलिये के कारण आपको बेहतर ग्रिप बनाने में मदद मिलेगी, तो वहीं उसके रेशे कपड़े में से पानी सोखने का काम करेंगे। इसके बाद फैन को फुल स्पीड पर कर, कपड़े को हैंगर पर टांग दें।
हेयर ड्रायर
फैन की हवा सीधे कपड़े पर नहीं लगती है, इसलिए पंखे के साथ ही हेयर ड्रायर का इस्तेमाल करें। इस पर वॉर्म मोड को सिलेक्ट करें, जिससे पानी को भांप बनने और कपड़े को जल्दी सूखने में मदद मिलेगी।
कूलर
हेयर ड्रायर न भी हो, तो कूलर आपके काम आ सकता है। कूलर की हवा को भी कपड़े पर डायरेक्ट किया जा सकता है। इस वजह से निचोड़े गए कपड़े को जल्दी सूखने में मदद मिलती है।
प्रेस
कपड़े को निचोडऩे के बाद उसे सुखाने के लिए प्रेस का इस्तेमाल भी किया जा सकता है। हालांकि, यह ध्यान रखें कि पहले टेंपरेचर को लो पर रखें, ताकि कपड़े को नुकसान न पहुंचे और उस पर इस्तरी का निशान न बन जाए। इसके बाद जरूर कपड़े के फैब्रिक के अनुसार प्रेस के टेंपरेचर को सेट करें और क्रीज बनाते हुए उसे सुखाएं।


पायलट के लिए कांग्रेस का दरवाजा खुला

जयपुर। राजस्थान में मचे सियासी बवाल के बीच अब राहुल गांधी ने सचिन पायलट के लिए संदेश भेजा है। राहुल की ओर से संदेश दिया गया है कि सचिन पायलट पार्टी के सदस्य हैं और पार्टी के दरवाजे उनके लिए हमेशा खुले हैं। साथ ही सीएम अशोक गहलोत को सार्वजिनक बयान नहीं देने के लिए भी कहा गया है।


सूत्रों के मुताबिक, पार्टी आलाकमान भी सचिन पायलट पर निजी हमले से मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से नाराज है। आजतक ने पहले ही सूचना दी थी कि पार्टी नेतृत्व ने सचिन पायलट को भेजे गए नोटिस के लिए अशोक गहलोत की खिंचाई की गई थी। बता दें कि गहलोत ने सीधे सचिन पायलट पर विधायकों की खरीद-फरोख्त कर सरकार गिराने का आरोप लगाया है। गहलोत ने यहां तक कह दिया कि उनके पास इसके सबूत हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि अबतक सचिन पायलट की तरफ से ये कहा जा रहा है कि उन्होंने पांच साल मेहनत की थी और सीएम पद पर कब्जा अशोक गहलोत ने जमा लिया।


राहुल गांधी के संदेश के बाद साफ हो गया है कि अभी सचिन पायलट के लिए कांग्रेस के दरवाजे बंद नहीं है। कांग्रेस में अभी सुलह-समझौते की गुंजाइश बची हुई है। यही वजह है कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के द्वारा पायलट पर गंभीर आरोप लगाने के आधे घंटे के बाद ही कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि सचिन पायलट ‘वापस घर’ आएं और पार्टी फोरम पर खुलकर बात करें।


रणदीप सुरजेवाला ने बुधवार शाम को प्रेस कॉन्फ्रेंस में भी कहा कि पायलट होनहार नेता हैं और आलाकमान ने उनके प्रति उदारता दिखाई है। हालांकि राजस्थान में सरकार गिराने की साजिश हुई है, जो जनमत का अपमान है। कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा कि सचिन पायलट को दो बार विधायक दल की बैठक में बुलाया गया, लेकिन वो नहीं आए, इसलिए हमें भारी मन से सचिन पायलट पर फैसला लेना पड़ा है।


पुलिस की ज्यादती, दंपत्ति ने खाया जहर

गुना। मध्यप्रदेश के गुना जिले में किराए की जमीन पर खेती कर रहे किसान पति-पत्नी ने आत्महत्या करने का प्रयास किया। स्थानीय प्रशासन पुलिस वालों के साथ सरकारी जमीन पर अतिक्रमण हटाने पहुंचे था। परिजनों के मुताबिक परिवार पर तीन लाख रूपये से अधिक का कर्जा है, वो किराए पर खेत लेकर कर्ज की रकम चुकाना चाहते थे। दोनों को अस्पताल में भर्ती कराया गया। महिला की हालत नाजुक है।


गुना के सरकारी पीजी कॉलेज की जमीन पर राजकुमार अहिरवार लंबे समय से खेती कर रहे थे, मंगलवार दोपहर अचानक गुना नगर पालिका का अतिक्रमण हटाओ दस्ता एसडीएम के नेतृत्व में यहां पहुंचा और राजकुमार की फसल पर जेसीबी चलवाना शुरू कर दिया। राजकुमार ने विरोध किया तो उसे पुलिस ने पकड़ लिया।


राजकुमार का कहना था कि ये उसकी पैतृक जमीन है। दादा-परदादा इस जमीन पर खेती करते आ रहे हैं। उसके पास पट्टा नहीं है. जब जमीन खाली पड़ी थी तो कोई नहीं आया। उसने 4 लाख रुपए का कर्ज लेकर बोवनी की है। अब फसल अंकुरित हो आई है। इस पर बुल्डोजर न चलाया जाया. मेरे परिवार में 10-12 लोग हैं। अब मेरे पास कोई दूसरा रास्ता नहीं है। आत्महत्या करूंगा।


थोड़ी देर बाद उसकी पत्नी ने भी जान देने की कोशिश की, अतिक्रमण हटाने आए दस्ते के लोगों ने दोनों को पकड़ने का प्रयास किया तब तक काफी देर हो चुकी थी। बाद में दोनों को जबरन अस्पताल पहुंचाया गया। गुना तहसीलदार निर्मल राठौर ने कहा भूमि की नाप के बाद जब जेसीबी से कब्जा हटाया जा रहा था उस वक्त जो बटाईदार हैं उन्होंने किसी जहरीली वस्तु का सेवन कर लिया, उन्हें इलाज के लिये अस्पताल भेज दिया गया है। अस्पताल में राजकुमार की पत्नी की हालत नाजुक बताई जा रही है।


 


देश के पहले दृष्टिहीन आईएस की नियुक्ति

बोकारो। देश के पहले दृष्टिबाधित आईएएस अधिकारी राजेश सिंह ने झारखंड के बोकारो में पदभार ग्रहण किया। राजेश सिंह ने 32वें डीसी के रूप में बोकारो में पदभार ग्रहण किया है। उपायुक्त राजेश सिंह ने कहा कि सरकार ने मुझ पर भरोसा किया है और मैं खरा उतरने की पूरी कोशिश करूंगा। बोकारो जिले के विकास में मैं कोई कसर नहीं छोडूंगा। उन्होंने कहा है कि मैं गरीबों के लिए काम करूंगा क्योंकि मैंने संघर्षपूर्ण जीवन जिया है और संघर्ष को बहुत करीबी से जाना और देखा है। आपको बता दें कि आईएएस राजेश सिंह को झारखंड सरकार ने बोकारो का उपायुक्त बनाया है। राजेश सिंह झारखंड सरकार में उच्च तकनीकी शिक्षा और कौशल विकास विभाग के विशेष सचिव थे।


वर्ष 2007 के आईएएस राजेश सिंह को वर्ष 2011 में पहली नियुक्ति मिली और इसके लिए उन्हें सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाना पड़ा। कारण यह था कि उस वक्त कि सरकार आईएएस। बनने के बाद इनके दृष्टि को आधार बनाकर नियुक्ति देने को तैयार नहीं थी। सुप्रीम कोर्ट के तत्कालीन मुख्य न्यायाधीश के नेतृत्व वाली दो सदस्यीय पीठ ने तब यह फैसला दिया कि इसके लिए दृष्टि की नहीं दृष्टि कोण की जरुरत है।


राजेश सिंह पटना जिले के धनरुआ गांव के रहने वाले है और यह गांव विशेष तौर पर लड्डुओं के लिए विख्यात है। बचपन में क्रिकेट खेलने के दौरान इनकी दृष्टि चली गयी थी। इसके बाद इन्होंने देहरादून मॉडल स्कूल और उसके बाद दिल्ली विश्वविद्यालय तथा जेएनयू से पढ़ाई की और वर्ष 2007 में यूपीएससी की परीक्षा पास कर देश के पहले दृष्टिहीन आईएएस बने।


 कोरोना जैसे आपातकाल में राज्य सरकार ने बोकारो जैसे जिले का दायित्व सौंप कर इनके विलक्षण कार्य शैली पर भरोसा दिखाया है। पदभार ग्रहण करने के बाद बोकारो के नए उपायुक्त राजेश कुमार ने कहा की कोई भी कमी बाधा नहीं बनेगी। मैंने जिस संघर्ष से यहां तक पहुंचा हूं मुझे लोगों का सहयोग और साथ काफी मिला है ऐसे में मैं लोगों का और खासकर मीडिया वालों का भी आभार व्यक्त करता हूं उन्होंने मुझे संघर्ष के समय मेरा साथ दिया। उन्होंने कहा कि मुझ पर सरकार ने भरोसा किया मैं इस पर खरा उतरने का काम करूंगा।


पुणे की यरवदा जेल से 5 कैदी फरार

पुणे। महाराष्ट्र के पुणे में स्थित येरवडा जेल के 5 कैदी आज सुबह फरार हो गए हैं। जेल प्रशासन के अनुसार ये सभी नए कैदी थे जिन्हें हाल ही में येरवडा जेल के पास एक हॉस्टल में बनाई गई अस्थायी जेल में रखा गया था।


यहां उनका नियमानुसार कोरोना टेस्ट कराया गया था जिसकी जांच रिपोर्ट आना अभी बाकि है। पुलिस ने बताया कि कोरोना महामारी के मद्देनजर हमने ये अस्थायी जेल बनाई है। किसी भी नए कैदी की कोरोना टेस्ट होने तक यहां रखा जाता है और जांच में सब सही होने पर ही उसे जेल में एंट्री दी जाती है। कोरोना टेस्ट के इस प्रक्रिया के दौरान ही उक्त सभी कैदियों ने भागने का प्लान बनाया था। जिसके बाद उक्त आरोपियों ने पुलिस को चकमा देकर अस्थायी जेल में बिल्डिंग नंबर 4 की पहली मंजिल पर कमरा नंबर 5 की खिड़की को तोड़कर वहां से भाग निकले। पुलिस ने जानकारी देते हुए बताया कि फरार कैदियों के नाम देवगण चव्हाण, गणेश चव्हाण, अक्षय चव्हाण, अंजिक्य कांबळे, सनी टायरन पिंटो हैं. कैदियों के फरार होने की सूचना के बाद से ही पुलिस इनकी तलाश में जुटी हुई है। पुलिस ने कहा कि वे जल्द की वापस कानून की गिरफ्त में होंगे।             


परिवार के 6 सदस्यों को तलवार से काटा

मंडला। मध्य प्रदेश से एक खौफनाक वारदात का मामला सामने आया है। यहां एक ही परिवार के 6 लोगों की तलवार से काट कर निर्मम हत्या कर दी गई। हत्यारों के सामने परिवार का जो भी सदस्य आया, उसे तलवार से काट डाला गया। इस वारदात से गुस्साए गांव वालों ने दो में से एक आरोपी की लाठी-डंडों से पिटाई की जिसकी बाद में मौत हो गई। मंडला जिले के बीजाडांडी थाना क्षेत्र की मनेरी चौकी में 6 लोगों की सनसनीखेज हत्या का मामला सामने आया है। सोनी परिवार के ही दो परिवारों के बीच संपत्ति विवाद को लेकर इस वारदात को अंजाम दिया गया है।


एक परिवार के दो लोगों ने दूसरे परिवार पर धारदार हथियार से वारदात को अंजाम देकर उन्हें मौत के घाट उतार दिया। मृतक राजेंद्र सोनी भाजपा का वरिष्ठ नेता बताया जा रहा है। इस हत्याकांड में उनके ही परिवार के 6 सदस्यों की हत्या कर दी। जिन लोगों की हत्या हुई है, उसमें दो बच्चे भी शामिल हैं। दो आरोपियों में से एक की ग्रामीणों द्वारा पीट कर हत्या भी कर दी गई। घटना के संबंध में बताया जा रहा है कि सोनी परिवार के दो भाइयों के परिवारों के बीच पैतृक संपत्ति को लेकर लंबे समय से विवाद चल रहा था। इसी विवाद के चलते एक भाई के परिवार के दो लोगों ने दूसरे परिवार के सदस्यों पर धारदार हथियार से हमला कर दिया।


मृतक राजेंद्र सोनी जो कि भाजपा के वरिष्ठ नेता बताए जा रहे हैं, वे गल्ले का व्यापार करते थे। दुकान में ही आरोपियों ने उन पर हमला किया जिससे मौके पर ही उनकी मौत हो गई। साथ ही उनके उनके परिवार के 5 सदस्यों की हत्या कर दी गई। इसमें सात और दस वर्ष के बच्चे भी शामिल हैं। मृतकों में राजेंद्र सोनी (58), उनका भाई  विनोद सोनी (45) साल, उनका भतीजा ओम सोनी (9), भतीजी प्रियांशी सोनी (7), बेटी प्रिया सोनी (28) और उनके समधी दिनेश सोनी (50) शामिल हैं। इस हत्याकांड के आरोपियों में संतोष सोनी (35) की मौत हो गई तो वहीं एक अन्य आरोपी हरि सोनी पुलिस गिरफ्त में है।


हत्या का आरोप उनके ही रिश्तेदार संतोष सोनी व हरी सोनी पर है। इस घटना को लेकर पूरे क्षेत्र में दहशत और तनाव का माहौल है। जिले के दूरस्थ क्षेत्र में स्थित मनेरी ग्राम में पुलिस चौकी तो स्थित है लेकिन स्टाफ काफी सीमित है। अन्य थानों से पुलिस बल पहुंचने में देर होने से स्थानीय लोग आक्रोशित नज़र आए। पुलिस के पहुंचने के बाद ग्रामीणों ने आरोपियों को पकड़ने दबाव बनाया और एक आरोपी के साथ मारपीट भी की। इस संबंध में पुलिस अधीक्षक ने बताया कि घटना के वक्त चौकी में स्टाफ कम था। लेकिन अन्य थानों से पुलिस बल पहुंचने के बाद एक आरोपी को भागते वक्त पैर में गोली मार कर गिरफ्तार किया गया।


दीदी के फैसले ने सबका दिल जीता

रायपुर। नई दिल्ली से पश्चिम बंगाल तक यू तो ममता बनर्जी की खूब आलोचना होती है। लेकिन बंगाल में उन्हें प्यार से उनके प्रशंसक दीदी बुलाते है और यही कारण है कि उनका एक फैसले ने सबका दिल जीत लिया, जिससे वे आज एक बार फिर पश्चिम बंगाल के लोगों के दिलों में राज कर रही है।









ममता दीदी’ की सरकार ने फैसला लिया है कि कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई के दौरान ड्यूटी पर मरने वाले सरकारी कर्मचारियों के निकटतम परिजन को पश्चिम बंगाल सरकार नौकरी देगी। ये फैसला इसलिए भी जरूरी है क्योंकि पश्चिम बंगाल में कोरोना वायरस संक्रमण से अभी तक राज्य सरकार के 12 कर्मचारियों की मौत हुई है। फैसला लेते हुए ममता बनर्जी ने कहा कि राज्य सरकार मृत कर्मचारियों- चिकित्सकों, पुलिसकर्मियों और स्वास्थ्य कर्मियों को मरणोपरांत पदक और प्रमाण पत्र के साथ सम्मानित भी करेगी।








कई बड़े ट्विटर अकाउंट किए हैक

नई दिल्ली। अमेरिका के कई बड़े लोगों के ट्विटर अकाउंट हैक कर लिए गए।  बुधवार को हैकरों ने जिनके ट्विटर अकाउंट को हैक किया, उनमें माइक्रोसॉफ्ट के सह संस्थापक बिल गेट्स, टेस्ला के सीईओ इलॉन मस्क, अमेरिकी रैपर कान्ये वेस्ट, अमेरिका के पूर्व उपराष्ट्रपति जो बिडेन, अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा, इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू, वॉरेन बफेट, एप्पल, उबर समेत अन्य के ट्विटर अकाउंट को हैक किया गया है। ट्विटर हैंडल हैक करने के बाद इसपर एक खास तरह के मेसेज पोस्ट किए गए। पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा का भी ट्विटर हैंडल हैक कर लिया गया। संदेशों से स्पष्ट है कि क्रिप्टोकरंसी स्कैम के उद्देश्य से ऐसा किया गया। ये मेसेज थोड़ी देर बाद डिलीट भी कर दिए गए। हैक करने वाले ने मेसेज में एक लिंक डाला जिसपर बिट कॉइन का लेनदेने किया जा सकता है। पोस्ट किया गया, ‘आप हमको 5000 बिट कॉइन देने वाले हैं।’ जानकारी के बाद वेबसाइट के डोमेन को कैंसल कर दिया गया। ऐमजॉन के को-फाउंडर जेफबेजोस और बिल गेट्स के ट्विटर हैंडल हैक करके भी इसी तरह के पोस्ट किए गए।


एपल के आकाउंट से लिखा गया है कि हम अपने लोगों को कुछ देना चाहते हैं। उम्मीद है कि आप भी सपॉर्ट करेंगे। आप जितने भी बिटकॉइन भेजेंगे, उन्हें डबल करके लौटाया जाएगा। यह केवल 30 मिनट के लिए है। एलन मस्क की प्रोफाइल से लिखा गया है कि कोविड 19 की वजह से मैं लोगों को बिट कॉइन डबल करके दे रहा हूं। यह सब सुरक्षित है। थोड़ी देर ही में इस तरह के ट्वीट कई कंपनियों के हैंडल से भी होने लगे। एपल, ऊबर और कई और कंपनियों के अकाउंट से भी बिटकॉइन स्कैम की कोशिश की गई। इस घटना के बाद ट्विटर पर भी सवाल खड़े हो रहे हैं। आखिर किस कमी की वजह से इतने बड़े नामों के भी ट्विटर हैंडल हैक हो गए? इसका मतलब ट्विटर में कोई ऐसा लूपहोल है जिसके चलते किसी की भी प्राइवेसी सुरक्षित नहीं है।            


प्राधिकरण प्रकाशन विवरण

यूनिवर्सल एक्सप्रेस    (हिंदी-दैनिक)


 जुलाई 17, 2020, RNI.No.UPHIN/2014/57254


1. अंक-339 (साल-01)
2. शुक्रवार, जुलाई-17, 2020
3. शक-1943, श्रावण, कृष्ण-पक्ष, तिथि- द्वादशी, विक्रमी संवत 2077।


4. सूर्योदय प्रातः 05:31,सूर्यास्त 07:25।


5. न्‍यूनतम तापमान 26+ डी.सै.,अधिकतम-38+ डी.सै.। भारी बरसात की संभावना।


6.समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है।
7. स्वामी, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहींं है।


8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102।


9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.,201102


www.universalexpress.in


https://universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
संपर्क सूत्र :-935030275



  • (सर्वाधिकार सुरक्षित)                    


अभियान, सैकड़ों अरब डॉलर की परियोजनाएं: मंजूर

वाशिंगटन डीसी। दुनिया के सबसे संपन्न सात देशों (जी 7) के शिखर सम्मेलन में शनिवार को चीन मुख्य मुद्दा रहा। चीन की विस्तारवादी नीतियों के खिला...