गुरुवार, 4 अगस्त 2022

चीन द्वारा दागे गए रॉकेट को ‘मिस्‍ट्री वेपन’ करार दिया 

चीन द्वारा दागे गए रॉकेट को ‘मिस्‍ट्री वेपन’ करार दिया 

अखिलेश पांडेय 

बीजिंग। चीन की मिलिट्री ने लाइव फायर एक्‍सरसाइज के तहत गुरुवार को 370 एमएम वाले PCL 191 (MLRS) रॉकेट्स को दागा। इन रॉकेट्स को ताइवान स्‍ट्रैट्स पर लॉन्‍च किया गया। इन्‍हें दागने का मकसद ताइवान को निशाना बनाना है, जो रॉकेट चीन की तरफ से दागा गया है। उसकी रेंज 350 किलोमीटर है। रिपोर्ट में बताया गया है कि जो मिलिट्री ड्रिल ताइवान के करीब हो रही है, उसके तहत समुद्र से लेकर जमीन और हवा में भी ताइवान की घेराबंदी की जा रही है।

ड्रिल में चीन की सेनाएं J-20 स्‍टेल्‍थ फाइटर जेट्स से लेकर DF-17 हाइपरसोनिक मिसाइल तक का प्रयोग कर रही हैं।जो रॉकेट चीन ने दागा है, उसे रक्षा विशेषज्ञों ने एक ‘मिस्‍ट्री वेपन’ करार दिया है। इस रॉकेट सिस्‍टम (MLRS) को उस समय टेस्‍ट किया गया था जब भारत के साथ पूर्वी लद्दाख में तनाव जारी था। चीन ने पिछले दिनों ही इसे लद्दाख के करीब टेस्‍ट किया था। इसकी अधिकतम रेंज 500 किलोमीटर बताई जा रही है लेकिन इस पर थोड़ा संदेह जताया गया है। कुछ लोग इसकी रेंज 350 किलोमीटर बताते हैं। PCL-191 ट्रक लान्‍च रॉकेट सिस्‍टम है, जो 370 एमएम के रॉकेट्स को आसानी से लॉन्‍च कर सकता है।

आजम की तबीयत बिगड़ी, अस्पताल में भर्ती कराया

आजम की तबीयत बिगड़ी, अस्पताल में भर्ती कराया 

संदीप मिश्र 

लखनऊ। समाजवादी पार्टी के कद्दावर नेता एवं अखिलेश यादव सरकार में कैबिनेट मंत्री रहे आजम खान की तबीयत अचानक से बिगड़ जाने के बाद उन्हें राजधानी के मेदांता अस्पताल में भर्ती कराया गया है। सांस लेने में हो रही दिक्कत को देखते हुए पूर्व मंत्री को आईसीयू में शिफ्ट किया गया है। चिकित्सकों ने अगले 48 घंटे आजम खान के लिए बेहद महत्वपूर्ण बताएं हैं। बृहस्पतिवार को उत्तर प्रदेश सरकार में कैबिनेट मंत्री रहे मौजूदा विधायक आजम खान की तबीयत अचानक से खराब हो गई है। आनन-फानन में पूर्व मंत्री को राजधानी लखनऊ के मेदांता अस्पताल में ले जाकर इलाज के लिए भर्ती कराया गया है। जहां चिकित्सकों ने पूर्व मंत्री को सांस लेने में हो रही दिक्कत के मद्देनजर आईसीयू में शिफ्ट कर दिया है।

पूर्व मंत्री का इलाज कर रहे चिकित्सकों ने अगले 48 घंटे आजम खान के जीवन के लिए महत्वपूर्ण बताए हैं। पोस्ट कोविड-19 सिस्टम से बुरी तरह जूझ रहे पूर्व मंत्री को निमोनिया का असर बताया गया है, जो आजम खान के फेफड़ों तक पहुंच गया है। जिसकी वजह से पूर्व मंत्री को सांस लेने में दिक्कत हो रही है। उल्लेखनीय है कि पूर्व मंत्री आजम खान को सीतापुर जेल में रहने के दौरान कोरोना की दूसरी लहर के समय कोविड-19 के संक्रमण ने अपने लपेटे में ले लिया था। कई दिनों तक अस्पताल में भर्ती रहने के बाद पूर्व मंत्री की हालत की हुई थी।

'हर घर तिरंगा' अभियान को सफल बनाने हेतु बैठक 

'हर घर तिरंगा' अभियान को सफल बनाने हेतु बैठक 

अश्वनी उपाध्याय/दीपक राणा 

गाजियाबाद/लोनी। लोनी के बलराम नगर में हर घर तिरंगा अभियान को सफल बनाने के लिए भाजपा के अल्पसंख्यक एवं अनुसूचित मोर्चा की बैठक आयोजित की गई। बैठक में आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर मनाएं जा रहे हर घर तिरंगा अभियान को सफल बनाने के लिए भाजपा उपाध्यक्ष किसान मोर्चा व अभियान के संयोजक ने दोनों मोर्चों को महत्वपूर्ण ज़िम्मेदारी दी।

बैठक में दोनों मोर्चाओं के पदाधिकारी, मण्डल अध्यक्ष व कार्यकर्ता उपस्थित रहें। भाजपा नेता पं ललित शर्मा ने कहा यह दोनों मोर्चा अहम है और हर घर तिरंगा अभियान को सफल और भव्य बनाने के लिए रणनीतिक बैठक का आयोजन किया गया है और संगठन से प्राप्त निर्देशों की जानकारी दी। बैठक में मुख्य रूप से अल्पसंख्यक मोर्चा के एवं अनुसूचित जाति मोर्चा के जिले के पदाधिकारी एवं मंडल अध्यक्ष उपस्थित रहे।

कांग्रेस को झटका, बिश्नोई ने भाजपा का दामन थामा 

कांग्रेस को झटका, बिश्नोई ने भाजपा का दामन थामा 

अकांशु उपाध्याय/राणा ओबरॉय 

नई दिल्ली/चंडीगढ़। हरियाणा कांग्रेस के दिग्गज नेता रहे कुलदीप बिश्नोई ने भारतीय जनता पार्टी का दामन थाम लिया है। गुरुवार को उन्होंने पार्टी की सदस्यता ली। बुधवार को ही उन्होंने आदमपुर विधायक के तौर पर चंडीगढ़ से इस्तीफा दिया था। खास बात है कि कांग्रेस ने जून में ही उन्होंने निष्कासित कर दिया था। उन्होंने राज्यसभा चुनाव में भी क्रॉस वोटिंग की थी। कुलदीप बिश्नोई ने विधायक पद छोड़ने के बाद भाजपा का दामन थाम लिया है। लंबी बगावत के बाद उन्होंने पार्टी छोड़ने का फैसला कर लिया था। हाल ही में कांग्रेस में हुए फेरबदल के दौरान प्रदेश अध्यक्ष पद पर नाम को लेकर विचार नहीं करने के चलते वह बागी हो गए थे। खबर है कि उनके बेटे भव्य बिश्नोई आदमपुर सीट पर उपचुनाव में भाजपा के टिकट पर मैदान में उतर सकते हैं।

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने भाजपा मुख्यालय में उनका पार्टी में स्वागत किया। उन्होंने कहा कि बिश्नोई का आना संगठन की मदद करेगा। उन्होंने बताया कि वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व का समर्थन कर रहे थे और हाल के राज्यसभा चुनाव में कांग्रेस में रहते हुए भी भाजपा का समर्थन किया था।इस दौरान आदमपुर के पूर्व विधायक ने भी पीएम मोदी की तारीफ की और कहा कि उन्हें ‘भारत का सबसे अच्छा प्रधानमंत्री’ कहना गलत नहीं होगा, जो हमेशा देश और गरीबों के कल्याण के बारे में सोचते हैं। इधर, 10 जून को भी उन्होंने राज्यसभा चुनाव में क्रॉस वोटिंग की थी। उस चुनाव में कांग्रेस ने अजय माकन को उम्मीदवार बनाया था। जबकि, भाजपा और जननायक जनता पार्टी (JJP) समर्थित उम्मीदवार कार्तिकेय शर्मा की जीत हुई थी। इसके अगले ही दिन उन्हें पार्टी के सभी पदों से हटा दिया गया था।

जिला पंचायत सदस्य उपचुनाव के लिए मतदान कराया 

जिला पंचायत सदस्य उपचुनाव के लिए मतदान कराया 

भानु प्रताप उपाध्याय 

मुजफ्फरनगर। जनपद में जिला पंचायत सदस्य उपचुनाव के लिए बृहस्पतिवार को कड़ी सुरक्षा के बीच मतदान कराया गया। जिलाधिकारी एवं वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक द्वारा मतदान केन्द्रों का निरीक्षण किया गया। इस दौरान मतदान केन्द्र पर सुरक्षा ड्यूटी पर तैनात पुलिस फोर्स को आवश्यक दिशा निर्देश भी दिए। जनपद में हो रहे जिला पंचायत सदस्य उपचुनाव को सकुशल सम्पन्न कराने तथा जनपद में सुरक्षा व्यवस्था सुदृढ रखने हेतु जिलाधिकारी श्री चन्द्रभूषण सिंह महोदय एवं वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक मुजफ्फरनगर विनीत जायसवाल द्वारा पुलिस एंव प्रशासनिक अधिकारियों के साथ मतदान केन्द्रों का निरीक्षण किया गया।

इस दौरान अपरजिलाधिकारी (प्रशासन) नरेन्द्र बहादुर सिंह, पुलिस अधीक्षक देहात अतुल कुमार श्रीवास्तव सहित अन्य पुलिस एंव प्रशासनिक अधिकारी उपस्थित रहे। जिलाधिकारी एवं वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक द्वारा मतदान केन्द्रों पर पहुंचकर मतदान हेतु की गई सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लेते हुए कुशलता प्राप्त की तथा मतदान केन्द्र सुरक्षा ड्यूटी पर तैनात पुलिस बल को निर्देशित किया गया कि मतदान केन्द्र के अंदर कोई भी व्यक्ति मोबाइल फ़ोन न ले जाये, मतदान केन्द्र के आसपास भीड़ एकत्रित न होने दे, चुनाव प्रक्रिया के दौरान यदि किसी भी व्यक्ति द्वारा किसी भी प्रकार का विघ्न डालने का प्रयास किया जाता है, तो ऐसे अराजक तत्वों पर पूरी सख्ती से कानूनी कार्यवाही की जाए।

यदि किसी प्रत्याशी या मतदाता द्वारा चुनाव आयोग के दिशा निर्देशो का उल्लंघन किया जाता है, तो उसके विरुद्ध तत्काल नियमानुसार कठोरतम कार्यवाही अमल में लाई जाएगी। पीठासीन अधिकारी का पूर्ण सहयोग करें तथा शांति व्यवस्था बनाये रखें एवं शान्ति व्यवस्था हेतु पीठासीन अधिकारी के बुलाने पर ही मतदान केन्द्र के अन्दर प्रवेश करें। साथ ही जिलाधिकारी एवं वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक द्वारा सभी मतदाताओं से अपील की गई कि मतदान केन्द्र पास अनावश्यक रूप से खडें ना हो, वोट डालने के पश्चात अपने अपने घर जाएं तथा कानून एंव शान्ति व्यवस्था बनाए रखने में पुलिस प्रशासन का सहयोग करें।

रोमांस: 50 साल के शख्स का प्राइवेट पार्ट फ्रैक्चर हुआ 

रोमांस: 50 साल के शख्स का प्राइवेट पार्ट फ्रैक्चर हुआ 

डॉक्टर सुभाषचंद्र गहलोत 

जकार्ता। इंडोनेशिया से एक बेहद हैरान कर देने वाला मामला सामने आया है, जिसे जान आपके होश पाख्ता हो जाएंगे। दरअसल, पत्नी के साथ रोमांस के दौरान 50 साल के एक शख्स का प्राइवेट पार्ट फ्रैक्चर हो गया। वहीं, वह दर्द के मारे बेचैन हो गया। इस दौरान उसे ब्लीडिंग भी शुरू हो गई और यूरिन पास होना भी बंद हो गया। जिसके बाद शख्स आनन-फानन में अस्पताल पहुंचा, जहां उसकी डॉक्टरों द्वारा सर्जरी की गई। रिपोर्टस के अनुसार, यह शख्स डॉक्टरों के पास प्राइवेट पार्ट में दर्द की समस्या लेकर आया था। ऐसे में इंडोनेशिया के जावा के Dr Soetomo General हॉस्पिटल के डॉक्टरों ने उसका इमरजेंसी में इलाज शुरू किया, जहां पता चला कि वो Eggplant Deformity से ग्रस्त हो गया है।

इलाज के दौरान डॉक्टरों ने पाया कि शख्स के प्राइवेट पार्ट के चारों ओर के ऊतक, ब्लड वेसेल्स और नसें बुरी तरह खराब हो गई थीं। हालांकि, डॉक्टरों ने बेहद सावधानी से उसका इलाज किया। फिर युवक पांच दिन अस्पताल में रहने के बाद वह ठीक होकर घर गया। इलाज के चार महीने बाद तक शख्स को कोई गंभीर समस्या नहीं हुई। वह अब वह बिना किसी परेशानी के पहले की तरह जीवन जी रहा है। डॉक्टरों का कहना है कि Penile Fracture (पुरुषों के प्राइवेट पार्ट में होने वाला फ्रैक्चर) एक असामान्य बात है। लेकिन ऐसे कुछ मामले सामने आते रहे हैं। डॉक्टरों का कहना है कि जटिलताओं से बचने के लिए ऐसी स्थिति में सर्जरी ‘जितनी जल्दी हो सके’ की जानी चाहिए। हो सके तो 24 घंटे के भीतर ही।

प्रसाद को 'बीपीएससी' का अध्यक्ष नियुक्त किया

प्रसाद को 'बीपीएससी' का अध्यक्ष नियुक्त किया 

अविनाश श्रीवास्तव 

पटना। बिहार सरकार ने भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस) के पूर्व अधिकारी अतुल प्रसाद को बिहार लोक सेवा आयोग (बीपीएससी) का अध्यक्ष नियुक्त किया है। आधिकारिक विज्ञप्ति में यह जानकारी दी गई। अतुल प्रसाद चार अगस्त को अवकाश प्राप्त कर रहे निवर्तमान अध्यक्ष आर. के. महाजन का स्थान लेंगे।आयोग के अध्यक्ष और सदस्य छह वर्ष या 62 वर्ष की आयु के लिए पद धारण करते हैं। प्रसाद फरवरी 2022 में बिहार के विकास आयुक्त के रूप में सेवानिवृत्त हुए थे। सामान्य प्रशासन विभाग द्वारा यहां जारी एक अधिसूचना के अनुसार 1987 बैच (बिहार कैडर) के पूर्व आईएएस अधिकारी प्रसाद पांच अगस्त को कार्यभार संभालेंगे।

प्रसाद ऐसे समय में बिहार लोक सेवा आयोग का कार्यभार संभालेंगे जब बीपीएससी प्रारंभिक परीक्षा के प्रश्नपत्र कथित तौर पर लीक होने को लेकर आलोचनाओं का शिकार हो रहा है। बीपीएससी की प्रारंभिक परीक्षा जिसमें छह लाख से अधिक आवेदकों को उपस्थित होना था, आरोपों के मद्देनजर इस साल मई में अंतिम समय पर स्थगित कर दिया गया था। परीक्षा की नई तारीख अबतक घोषित नहीं की गई है।

शिंदे गुट की अर्जी पर फिलहाल कोई फैसला न लें 

शिंदे गुट की अर्जी पर फिलहाल कोई फैसला न लें 

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। शिवसेना पर नियंत्रण को लेकर उद्धव ठाकरे और एकनाथ शिंदे गुट असली शिवसेना किसकी है, इसपर दोनों गुट चुनाव आयोग और सुप्रीम कोर्ट पहुंच गए थे। इसपर नियंत्रण को लेकर दोनों पक्षों के बीच कानूनी लड़ाई जारी है। इस बीच, सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को सुनवाई करते हुए उद्धव गुट को राहत दी है और कोर्ट ने चुनाव आयोग से कहा कि वे शिंदे गुट की अर्जी पर फिलहाल कोई फैसला न लें। अब इस मामले पर सोमवार को अगली सुनवाई होगी।

इससे पहले, बुधवार को भी इस मामले पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई थी, जहां दोनों गुटों ने अपना-आपना पक्ष रखा था। इस मामले को पांच जजों की बेंच को सौंपने के संबंध में फैसला लिया जाएगा। वहीं दोनों पक्षों के लिखित तर्कों का सत्यापन किया जाएगा। सुनवाई के दौरान शिंदे कैंप के वकील हरीश साल्वे अपनी तरफ से प्रस्तावित सुनवाई के बिंदुओं को रखा. साल्वे अयोग्यता को लेकर स्पीकर के अधिकार और प्रक्रिया को पूरा करने के तरीके को लेकर सिलसिलेवार तरीके से बातें रखी।

CJI ने पूछा कि क्या एक बार चुने जाने के बाद विधायक पर पार्टी का नियंत्रण नहीं होता? वह सिर्फ पार्टी के विधायक दल के अनुशासन के प्रति जवाबदेह होता है? इसके जवाब में शिंदे समूह के वकील साल्वे ने कहा कि जब तक विधायक पद पर है, तब तक वह सदन की गतिविधि में हिस्सा लेने का अधिकारी है। वह पार्टी के खिलाफ भी वोट करे तो वह वोट वैध होगा। इसपर साल्वे ने कहा कि मैं यह नहीं कह रहा कि पार्टी का नियंत्रण नहीं होता। यह कह रहा हूँ कि हमने पार्टी नहीं छोड़ी है और सिर्फ पार्टी के अंदर अपनी आवाज़ उठाई है। वहीं, दूसरी तरफ उद्धव ठाकरे गुट के वकील कपिल सिब्बल ने कहा कि मामला संविधान पीठ को मत भेजें।

राउत को 8 अगस्त तक के लिए हिरासत में भेजा 

राउत को 8 अगस्त तक के लिए हिरासत में भेजा 

कविता गर्ग 

मुंबई। पात्रा चॉल भूमि कथित धनशोधन मामलें में शिवसेना सांसद संजय राउत की ईडी की हिरासत बृहस्पतिवार को समाप्त होने के बाद उन्हें एक बार फिर पीएमएलए कोर्ट में पेश किया गया। कोर्ट में पेश किये जाने के बाद उनकी तरफ से जमानत की मांग की गई, लेकिन कोर्ट ने उन्हें 8 अगस्त तक के लिए ईडी की हिरासत में भेज दिया है। कोर्ट के समक्ष ईडी के अधिकारियों ने कहा कि राउत से पात्रा चॉल भूमि कथित धनशोधन मामलें में और पूछताछ करना है। इसलिए राउत को एक बार फिर ईडी की हिरासत में दिया जाए। कोर्ट ने ईडी के अधिकारियों की बात को मानते हुए राउत को चार दिन के लिए उनकी हिरासत में भेज दिया है।

बता दें कि इसके पहले ईडी ने राउत से 31 जुलाई की देर रात पूछताछ के बाद 1 अगस्त को गिरफ्तार करने के बाद कोर्ट के समक्ष पेश किया था। कोर्ट ने राउत को 4 अगस्त तक के लिए ईडी की हिरासत में भेज दिया था।

ईडी द्वारा भेजे गए नोटिस को 'उत्पीड़न' करार दिया 

ईडी द्वारा भेजे गए नोटिस को 'उत्पीड़न' करार दिया 

इकबाल अंसारी 

तिरुवनंतपुरम। मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) के वरिष्ठ नेता थॉमस इसाक ने प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) द्वारा उन्हें भेजे गए नोटिस को “उत्पीड़न” करार दिया है। इसाक को केआईआईएफबी में वित्तीय कारोबार में कथित अनियमितताओं की जांच के सिलसिले में पेश होने के लिए ईडी ने नोटिस जारी किया है। इससे पहले ईडी ने जुलाई के दूसरे हफ्ते में केरल के पूर्व मंत्री इसाक को नोटिस जारी कर 19 जुलाई को पेश होने को कहा था। लेकिन वह पेश नहीं हुए थे। वाम लोकतान्त्रिक मोर्चा (LDF) की पिछली सरकार में जब इसाक वित्त मंत्री थे तब केरल अवसंरचना निवेश कोष बोर्ड (KIIFB) के वित्तीय कारोबार में कथित तौर पर नियमों का उल्लंघन हुआ था। इसाक ने ईडी का नोटिस मिलने की पुष्टि करते हुए बृहस्पतिवार को कहा कि इस बार ईडी ने उनसे पिछले 10 वर्षों में उनके बैंक खातों, संपत्ति, विदेश से मिली धनराशि और उनकी कंपनियों के बारे में विवरण मांगा है। उन्हें 11 अगस्त को ईडी के समक्ष पेश होने के लिये नोटिस भेजा गया है।

उन्होंने कहा कि वह अपने वकीलों से चर्चा करने के बाद एक-दो दिन में ईडी के नोटिस का जवाब देंगे। ईडी के सामने पेश होने को लेकर उसके नोटिस का विश्लेषण किए जाने के बाद ही फैसला लिया जाएगा। माकपा नेता ने यहां संवाददाताओं से कहा, “यह स्पष्ट रूप से उत्पीड़न का एक मामला है। मुझे नहीं पता कि उनका उद्देश्य क्या है, लेकिन यह उत्पीड़न है। नोटिस को चुनौती देने और ईडी के सामने पेश होने सहित आगे की कार्रवाई के बारे में कानूनी विशेषज्ञों और वकीलों से चर्चा करने के बाद निर्णय लिया जाएगा।” उन्होंने यह भी कहा कि भारतीय रिजर्व बैंक ने कभी नहीं कहा कि केरल अवसंरचना निवेश कोष बोर्ड द्वारा विदेशी मुद्रा प्रबंधन अधिनियम (फेमा) के प्रावधानों का कोई उल्लंघन किया गया है।

विवाद: चीन की सीमा में 'युद्धभ्यास' की नौबत 

विवाद: चीन की सीमा में 'युद्धभ्यास' की नौबत 

अकांशु उपाध्याय/अखिलेश पांडेय 

नई दिल्ली/बीजिंग/वाशिंगटन डीसी। भारत-चीन के बीच लंबे समय से चलें आ रहें सीमा विवाद ने चीन की हरकतों के कारण अब भारत-अमेरिका की सेनाओं के बीच चीन की सीमा में युद्धभ्यास की नौबत ला दी है। भारत अब चीन के नापाक हरकतों का मुहतोड़ जवाब देने का फैसला कर लिया है। तेजी से बदल रहे क्षेत्रीय सुरक्षा परिदृश्य के बीच भारत और अमेरिका उत्तराखंड के औली में अक्टूबर में दो हफ्ते के लिए सैन्य अभ्यास करेंगे। रक्षा और सैन्य प्रतिष्ठान के सूत्रों ने बताया कि यह 18वां ‘‘युद्ध अभ्यास” 14 से 31 अक्टूबर तक चलेगा। पिछला अभ्यास पिछले साल अक्टूबर में अमेरिका के अलास्का में हुआ था। सूत्रों ने कहा कि अभ्यास का उद्देश्य भारत और अमेरिका की सेनाओं के बीच समझ, सहयोग और अंतर-संचालन को बढ़ाना है। पूर्वी लद्दाख में चीन के साथ भारत के सीमा विवाद की पृष्ठभूमि में यह युद्ध अभ्यास हो रहा है।

पिछले कुछ वर्षों से भारत-अमेरिका रक्षा संबंध प्रगाढ़ हो रहे हैं। जून, 2016 में अमेरिका ने भारत को एक बड़े रक्षा साझेदार’ घोषित किया था। दोनों सेनाओं ने 2018 में कम्युनिकेशंस कंपेटिबिलिटी एंड सिक्योरिटी एग्रीमेंट पर भी हस्ताक्षर किए, जो दोनों सेनाओं के बीच अंतर-संचालन प्रदान करता है और अमेरिका से भारत को उच्च तकनीक की बिक्री का प्रावधान करता है।

उत्तराधिकारी के तौर पर जस्टिस ललित को चुना: रमण

उत्तराधिकारी के तौर पर जस्टिस ललित को चुना: रमण 

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट के प्रधान न्यायाधीश जस्टिस एनवी रमण ने बृहस्पतिवार को अपने उत्तराधिकारी के तौर पर जस्टिस यूयू ललित को चुन लिया। उन्होंने सरकार से जस्टिस ललित को नया सीजेआई नियुक्त करने की सिफारिश की है। सुप्रीम कोर्ट के मौजूदा न्यायाधीशों के क्रम में जस्टिस रमण के बाद जस्टिस ललित का ही नाम आता है। इसलिए उन्हें ही उत्तराधिकारी चुना गया है। 

जस्टिस ललित देश के 49 वें प्रधान न्यायाधीश होंगे। सीजेआई रमण इसी माह 26 तारीख को सेवानिवृत्त हो रहे हैं। हालांकि,  उनका कार्यकाल भी तीन माह का ही रहेगा। जस्टिस यूयू ललित नवंबर में रिटायर होने वाले हैं।

भाजपा पर जोरदार हमला, मोदी से नहीं डरता: राहुल 

भाजपा पर जोरदार हमला, मोदी से नहीं डरता: राहुल 

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। नेशनल हेराल्ड मामलें में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी व कांग्रेस नेता एवं सांसद राहुल गांधी से लंबी पूछताछ के बाद ईडी अब नेशनल हेराल्ड के दफ्तर को जांच के दायरे में लेकर सील कर दिया है। नेशनल हेराल्ड का दफ्तर सील होने के बाद कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने भाजपा पर जोरदार हमला बोला है।

भाजपा के जांच से भागने के आरोप पर राहुल गांधी ने कहा कि भागने की बात कौन कर रहा है। सुन लें…जो करना है कर लें, मैं नरेंद्र मोदी से नहीं डरता। वे सोचते हैं दबाव बनाकर हमें चुप कर देंगे। हम चुप नहीं होने वाले। हमारा काम देश की रक्षा करना है, लोकतंत्र की रक्षा करना है।

भाजपा के 4 विधायकों का निलंबन वापस लिया 

भाजपा के 4 विधायकों का निलंबन वापस लिया 

विमलेश यादव 

रांची। झारखंड विधानसभा के मानसून सत्र के पांचवें दिन गुरुवार को भारतीय जनता पार्टी के निलंबित चार विधायक भानु प्रताप शाही, ढुल्लू महतो , जयप्रकाश भाई पटेल और रणधीर सिंह का निलंबन वापस ले लिया गया। इसके साथ ही निलंबन वापस लेने की मांग को लेकर सदन में चला आ रहा गतिरोध आज समाप्त हो गया। पूर्वाह्न 11 बजे विधानसभा की कार्यवाही शुरू होने के साथ ही संसदीय कार्यमंत्री आलमगीर आलम ने भाजपा के चारों निलंबित विधायकों के निलंबन को वापस लेने का प्रस्ताव रखा।

संसदीय कार्य मंत्री ने कहा कि सरकार यह चाहती है कि विपक्ष सदन में जनहित के मुद्दे और समस्याओं के समाधान को लेकर सकारात्मक सहयोग करें। संसदीय कार्यमंत्री के प्रस्ताव पर विधानसभा अध्यक्ष रबींद्रनाथ महतो ने भाजपा के चारों विधायकों का निलंबन वापस लेने की घोषणा करते हुए कहा कि सहमति और असहमति संसदीय परंपरा का अलंकार है, परंतु विरोध का सयंमित और संसदीय परंपराओं के अनुकूल होना भी अत्यंत ही आवश्यक है। उन्होंने कहा कि किसी भी पीठासीन पदाधिकारी के लिए माननीय सदस्यों को सदन की कार्यवाही से निलंबित किया जाना अत्यंत ही दुःखद है, परंतु सदन की गरिमा और संवैधानिक परंपराओं की रक्षा के लिए यह कदम कभी-कभी ना चाहते हुए भी उठाना पड़ता है। उन्होंने कहा कि जिन चार सदस्यों भानू प्रताप शाही, ढुल्लू महतो, जय प्रकाश भाई पटेल और रणधीर कुमार सिंह को 4 अगस्त तक सदन से निलंबित किया गया था, उनसभी का तत्काल प्रभाव से उनका निलंबन समाप्त किया जाता है।

इससे पहले 2 अगस्त को मॉनसून सत्र की कार्यवाही के दौरान सदन की कार्यवाही को बाधित करने और शोर-शराबा करने के कारण अध्यक्ष ने भाजपा के चारों विधायकों को 4 अगस्त तक के लिए सदन से निलंबित करते हुए उनके कार्यवाही में भाग लेने पर रोक लगा दी थी। लेकिन निलंबन समाप्त किये जाने के बाद भाजपा के चारों विधायकों को आज से ही सदन की कार्यवाही में भाग लेने की अनुमति मिल गई।

जयशंकर ने अन्य वैश्विक चुनौतियों पर चर्चा की

जयशंकर ने अन्य वैश्विक चुनौतियों पर चर्चा की 

अकांशु उपाध्याय/सुनील श्रीवास्तव 

नई दिल्ली/फोनों पेन्ह भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर ने बृहस्पतिवार को कंबोडिया की राजधानी नोम पेन्ह में आसियान सम्मेलन से इतर अमेरिकी विदेश मंत्री से हुई मुलाकात के दौरान श्रीलंका की स्थिति, म्यांमा के घटनाक्रम और अन्य वैश्विक चुनौतियों पर चर्चा की। दौरान अमेरिकी प्रतिनिधि सभा की अध्यक्ष नैंसी पेलोसी की ताइवान यात्रा के बाद चीन-ताइवान के बीच बढ़ते तनाव पर भी चर्चा हुई। एस जयशंकर ने ट्वीट किया, ”नोम पेन्ह में आसियान मंत्रिस्तरीय सम्मेलन से इतर अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन के साथ भारत-अमेरिका संबंधों और वैश्विक स्थिति पर चर्चा की।”

अमेरिकी विदेश मंत्रालय के अनुसार, बैठक की शुरुआत में ब्लिंकन ने कहा कि अमेरिका और भारत हिंद-प्रशांत क्षेत्र में आसियान की केंद्रीय भूमिका के प्रबल समर्थक हैं। उन्होंने कहा, ”दोनों देश आसियान की केंद्रीय भूमिका के प्रबल समर्थक हैं। हमारे पास एक स्वतंत्र व मुक्त हिंद-प्रशांत के लिए एक साझा दृष्टिकोण है जिस पर हम हर दिन कई अलग-अलग तरीकों से काम करते हैं। निश्चित रूप से हमारे सामने कुछ तात्कालिक चुनौतियां हैं, जिनसे दोनों देश चिंतित हैं। इनमें श्रीलंका और बर्मा की स्थिति और कई अन्य चुनौतियां शामिल हैं।” ब्लिंकन ने कहा, ”इसलिए मैं एक बार फिर अपने मित्र के साथ इन मुद्दों से निपटने पर बात करने को लेकर उत्सुक हूं।”

भाजपा के वरिष्ठ नेता शर्मा का निधन, दुख जताया 

भाजपा के वरिष्ठ नेता शर्मा का निधन, दुख जताया 

श्रीराम मौर्य 

शिमला। हिमाचल प्रदेश भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता प्रवीण शर्मा का गुरुवार को निधन हो गया। वह 65 वर्ष के थे। ऊना जिले के पोलियां पुरोहितन गांव के रहने वाले शर्मा ने आज सुबह अपने अंब कसवा स्थित आवास पर अंतिम सांस ली। उनके परिवार में बीमार पत्नी और एक बेटा है। शर्मा 2003 में पहली बार विधायक चुने गए और उन्होंने राज्य में पी के धूमल के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार में आबकारी एवं कराधान-सह-युवा कल्याण एवं खेल मंत्री के रूप में सेवा दी। उन्होंने अपने कॉलेज के दिनों में कांगड़ा जिले में एबीवीपी आंदोलन में बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया था और आपातकाल के दौरान उन्हें जेल भी जाना पड़ा था। वह राज्य के अन्य वरिष्ठ भाजपा नेताओं के साथ 18 महीने तक जेल में रहे। शर्मा के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के साथ घनिष्ठ संबंध थे और 1998 में जब मोदी हिमाचल प्रदेश के पार्टी मामलों के प्रमुख थे, तब उनके दौरे के दौरान उन्हें अपने स्कूटर पर जिले के विभिन्न हिस्सों में ले जाते थे।

हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने प्रवीण शर्मा के निधन पर गहरा दुख जताया। उन्होंने शोक संदेश में कहा कि पार्टी ने अपना एक सबसे मजबूत नेताओं में से एक नेता को खो दिया है, जो हमेशा गरीबों के अधिकार के लिए लड़ा करते थे। हिमाचल प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री पी के धूमल ने कहा कि शर्मा का निधन उनके लिए एक व्यक्तिगत क्षति है और ऐसा लग रहा था कि “मैंने अपनी आत्मा खो दी है।” संगठन और जनता के लिए काम करने वाले शर्मा को पूरा राज्य हमेशा याद रखेगा। शर्मा का अंतिम संस्कार आज दोपहर बाद ऊना जिले के अंब कसवा के पास श्मशान घाट में होगा।

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन 


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण 

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण 


1. अंक-300, (वर्ष-05)

2. शुक्रवार, अगस्त 5, 2022

3.शक-1944, श्रावण, शुक्ल-पक्ष, तिथि-अष्टमी, विक्रमी सवंत-2079।

4. सूर्योदय प्रातः 05:20, सूर्यास्त: 07:15। 

5. न्‍यूनतम तापमान- 25 डी.सै., अधिकतम-34+ डी.सै.। उत्तरभारत में बरसात की संभावना। 

6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक कासहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है। 

7.स्वामी, मुद्रक, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम व शिवांशु,(विशेष संपादक) श्रीराम व सरस्वती (सहायक संपादक) संरक्षण-अखिलेश पांडेय, ओमवीरसिंह, वीरसेन पवार, योगेश चौधरी आदि के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी। 

8. संपर्क व व्यवसायिक कार्यालय- चैंबर नं. 27,प्रथम तल, रामेश्वर पार्क, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102। 

9. पंजीकृत कार्यालयः263, सरस्वती विहार लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102http://www.universalexpress.page/ www.universalexpress.inemail:universalexpress.editor@gmail.com 

संपर्क सूत्र :- +919350302745--केवलव्हाट्सएप पर संपर्क करें, 9718339011 फोन करें।

 (सर्वाधिकार सुरक्षित)

अरक पंचायत में वार्षिक आम सभा का आयोजन

अरक पंचायत में वार्षिक आम सभा का आयोजन  अविनाश श्रीवास्तव  चक्की। प्रखंड की अरक पंचायत में वार्षिक आम सभा का आयोजन किया गया। जि...