सोमवार, 9 सितंबर 2019

गाजियाबाद का नटवरलाल हुआ गिरफ्तार

अश्वनी उपाध्याय


गाज़ियाबाद। पुलिस गिरफ्त में खड़ा अभियुक्त जिसका नाम पवन पांडे है ,अपने आप को एडीएम सिटी आगरा बताकर अधिकारियों को फोन कर अवैध काम कराने का दबाव बनाया करता था गाजियाबाद के डीएम को भी इसने अपना रिश्तेदार बताकर गाजियाबाद के कई अधिकारियों को फोन किया और काम कराने का प्रेशर बनाया। लेकिन गाजियाबाद के लेखपालों द्वारा इस बात की जानकारी अधिकारियों को दी गई और जब इस पूरे मामले में पुलिस ने छानबीन शुरू की तो फर्जी नटवरलाल का पता पुलिस को चला। जिसके बाद साहिबाबाद पुलिस ने कार्यवाही करते हुए फर्जी नटवरलाल उर्फ पवन पांडे को गिरफ्तार कर लिया। गाजियाबाद के एसपी सिटी श्लोक कुमार ने बताया कि गाजियाबाद की कई अधिकारियों के पास पवन पांडे ने फोन कर काम कराने के लिए कहा और अपने आप को गाजियाबाद के डीएम का रिश्तेदार भी बताया पवन पांडे की मोबाइल नंबर को सर्विलांस पर लगाया गया तो पता चला कि पवन पांडे ने गाजियाबाद के कई अधिकारियों को फोन किया है, और उनसे संपर्क कर काम कराने का दबाव भी बनाया पांडे को गिरफ्तार कर लिया गया है ,इसके पास से पुलिस ने तीन मोबाइल फोन भी बरामद किए हैं ।इन मोबाइल फोंस में जिले के कई अधिकारियों के सीयूजी नंबर सेव है अशोक कुमार का कहना है कि पवन पांडे से अभी पूछताछ की जा रही है इसके साथ ही श्लोक कुमार ने जनता के लिए भी मैसेज दिया कि शासकीय कार्य में हस्तक्षेप करने पर ऐसे अभियुक्तों पर सख्त से सख्त कार्यवाही की जाएगी और इस तरह की फोन कॉल से अलर्ट रहें अगर इस तरह की कॉलसाइन तो पुलिस को जानकारी अवश्य दें। पवन पांडे से जब बात की गई तो उसका कहना था,कि वह m.a. B.Ed है,और इलाहाबाद का रहने वाला है उसने अपने आप पर लगाए गए सभी आरोपों को गलत बताया। गौरतलब है कि पहले भी इस तरह के फर्जी नटवरलाल को पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेजा है। इससे पहले भी कई लोगों ने अपने आप को आईएएस और आईपीएस अधिकारी बता लोगो को ठग चुके हैं ऐसे में हम ये ही कहेंगे कि ऐसे लोगो से अलर्ट रहे,सुरक्षित रहे।


प्रधानमंत्री ने पॉलिथीन का किया विरोध

 गौतमबुध नगर। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने एक ही बार प्रयोग में लाये जाने वाले प्लास्टिक का इस्तेमाल बंद करने की जरूरत पर बल देते हुये कहा कि दुनिया के लिये इस प्लास्टिक को अलविदा कहने का यह उपयुक्त समय है। मोदी ने सोमवार को मरुस्थलीकरण की समस्या से निपटने के लिये संयुक्त राष्ट्र द्वारा आयोजित 14वें कोप सम्मेलन को संबोधित करते हुये कहा कि भारत आने वाले सालों में एकल प्रयोग वाले प्लास्टिक का इस्तेमाल पूरी तरह से बंद कर देगा। उन्होंने कहा कि अगर इसे नहीं रोका गया तो भूक्षरण का एक अन्य स्वरूप सामने आयेगा, जिसके फलस्वरूप जमीन की उत्पादकता को वापस प्राप्त करना मुमकिन नहीं होगा।


मोदी ने कहा, ''हमारी सरकार एकल प्रयोग वाले प्लास्टिक के इस्तेमाल का आने वाले सालों में पूरी तरह से अंत कर देगी। सम्मेलन में हिस्सा ले रहे लगभग 200 देशों के प्रतिनिधियों को संबोधित करते हुये प्रधानमंत्री ने कहा कि मेरा मानना है कि अब समय आ गया है कि दुनिया के सभी देश एकल प्रयोग वाले प्लास्टिक को अलविदा कह दें।


मोदी ने कहा कि भारत 2030 तक अपनी 2.6 करोड़ हेक्टेयर अनुपयुक्त हो चुकी बंजर भूमि में से 2.1 करोड़ हेक्टेयर जमीन को दुरुस्त कर देगा उन्होंने कहा कि इस काम में रिमोट सेङ्क्षसग और अंतरिक्ष विज्ञान सहित अन्य तकनीकों की भी मदद ली जायेगी। मोदी ने भारत द्वारा इस काम में अन्य मित्र देशों के लिये भी मददगार बनने की पहल करते हुये कहा कि मरुस्थलीकरण के संकट से जूझ रहे तमाम अन्य देशों को भारत अपनी किफायती उपग्रह एवं अंतरिक्ष तकनीक के माध्यम से मदद करने के लिये सहर्ष तैयार है।


परिवहन मंत्री नितिन ने जुर्माना सही ठहराया

नई दिल्ली। मोदी सरकार  के नए मोटर व्हीकल के लागू होने के बाद देशभर में हंगामा मचा है। लोग भारी भरकम जुर्माने  पर गुस्सा जाहिर कर रहे हैं। इस बीच केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने भारी जुर्माने को सही ठहराया है। गडकरी ने सोमवार को कहा, 'मुझे भी मुंबई के बांद्रा वर्ली सी लिंक पर ओवरस्पीडिंग के लिए जुर्माना देना पड़ा। मुझे मेरे घर पर चालान मिला और मैंने जुर्माना भरा.'


बता दें कि नया मोटर व्हीकल एक्ट 1 सितंबर से पूरे देश में लागू हो गया है। पुलिस नए ट्रैफिक नियमों को पालन कराने के लिए रोजाना चेकिंग कर रही है। ड्राइविंग के जरूरी कागजात नहीं होने पर भारी भरकम चालान काटा जा रहा है। साथ ही एक्सिडेंट केस में अगर किसी की मौत हो जाती है, तो आरोपी से 5 लाख रुपये तक जुर्माना वसूला जाएगा, जबकि गंभीर रूप से घायल के लिए 2.5 लाख देने होंगे।


मोदी सरकार-2.0 के 100 दिन पूरे होने पर नितिन गडकरी  ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में ये बातें कही। गडकरी ने नए मोटर व्हीकल एक्ट को सही ठहराया. गडकरी ने कहा, 'देश में सड़क सुरक्षा सुनिश्चित करने के उद्देश्य से ही ये एक्ट लाया गया है। क्योंकि, हाल ही में हमने नेशनल हाइवे पर 786 ब्लैक स्पॉट चिन्हित किए हैं। वहीं, 30 फीसदी ड्राइविंग लाइसेंस भी फर्जी पाए गए।


लोनी पुलिस ने किया सराहनीय काम

गाजियाबाद-लोनी। सुबह से शाम तक की कड़ी मेहनत रंग लाई एक बिछड़े हुई मां को उसके पुत्र से लोनी पुलिस ने मिलवा कर एक सराहनीय कार्य किया है।वृद्ध महिला शरवती देवी जिला हरदोई से किसी कारणवश अपने परिवार से बिछड़ गई थी|आज सुबह लोनी थाना कोतवाली पर पुलिस ने शर्वती वृद्ध महिला को अपने पास बैठा कर शाम तक काफी मशक्कत करने के बाद घर का पता किया बताया गया है|कि माता शरवती का दिमागी संतुलन कुछ ठीक नहीं रहता लोनी पुलिस ने आज कहां पर थाना मनचला हरदोई पर सूचना देकर पुलिस से जानकारी कर वहां के प्रधान से संपर्क कर वृद्ध महिला के परिजनों को ढूंढ निकाला वृद्ध महिला के पुत्र रामप्रकाश लोनी थाना कोतवाली में शाम7:00 बजे पहुंचे लोनी पुलिस का पीड़ित महिला ने उनके पुत्र ने शुक्रिया अदा किया|जिसमें लोनी पुलिस के दरोगा प्रवेन्द्र सिंह व नीरज कुमार कांस्टेबल ने सुबह से कड़ी मेहनत कर एक मां को अपने बिछड़े पुत्र से मिलवाने का जो सराहनीय कार्य किया है|मैं लोनी पुलिस को दिल की गहराइयों से सलाम करता हूं|और वही वृद्ध महिला व उनके पुत्र ने नमस्कार करते हुए शुक्रिया अदा किया लोनी पुलिस का एक और सराहनीय कार्य देखने को मिला है।


अनुच्छेद 370 हटाने का फैसला सही: कलराज

मेरी सक्रियता के बारे में राजस्थानियों को कुछ ही दिनों में पता चल जाएगा। कलराज मिश्र ने राज्यपाल पद की शपथ लेते ही कहा अनुच्छेद 370 को हटाने का फैसला सही। 

जयपुर। कलराज मिश्र ने जयपुर में राजस्थान के राज्यपाल पद की शपथ ग्रहण कर ली है। मिश्र हिमाचल प्रदेश के राज्यपाल के पद से स्थानांतरित होकर राजस्थान आए हैं। दो माह पहले तक मिश्र भाजपा की राजनीति में सक्रिय थे। राज्यपाल पद की शपथ लेने के बाद जयपुर में एक संवाददाता सम्मेलन में मिश्र ने कहा कि अब उनका राजनीति से कोई वास्ता नहीं है, वे एक राष्ट्र, एक जन और एक संस्कृति की विचारधारा के तहत संवैधानिक तरीके से अपना काम करेंगे। मेरी राजनीतिक विचारधारा पूर्व में कुछ भी रही हो, लेकिन मैं संविधान के अनुरूप ही राजस्थान के लोगों की सेवा करुंगा। जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 को हटाकर केन्द्र सरकार ने सराहनीय कार्य किया है। यह संविधान की भावना के अनुरूप है, जहां तक राजस्थान में मेरी भूमिका का सवाल है तो अगले कुछ ही दिनों में राजस्थान के लोगों को मेरी सक्रियता के बारे में पता चल जाएगा। कल्याण सिंह ने राज्यपाल के पद पर रहते हुए जो परंपराएं शुरू की थी, उन्हें मैं भी जारी रखूंगा मैंने सुरक्षा व्यवस्था में लगे अधिकारियों को निर्देश दिए है कि गार्ड ऑफ ऑनर जैसे परंपरा को बंद कर दिया जाए। इसी प्रकार मुझे भी महामहिम के बजाए माननीय राज्यपाल कहकर संबोधित किया जाए। उन्होंने कहा कि मुझे राजस्थान के विश्वविद्यालयों के बारे में बताया गया है। मैं चाहता हंू कि हमारे विश्वविद्यालय भारतीय संस्कृति के वाहक बने। मेरा प्रयास होगा कि विश्वविद्यालयों में कुलपति शिक्षक आदि नियुक्त हो और समय पर परीक्षाएं हों, ताकि विद्यार्थियों को परेशानी का सामना नहीं करना पड़े। उन्होंने कहा कि राजभवन में जनता दरबार कैसे लगेगा, इसकी जानकारी भी जल्द मिल जाएगी। मेरा प्रयास होगा कि राज्य की सरकार के सहयोग से आम लोगों की समस्याओं का समाधान किया जाए। मुझे पता है कि राजस्थान में कांग्रेस की सरकार है, लेकिन राज्यपाल और सरकार के बीच विवाद की कोई बात ही नहीं है। मैं जब राज्यपाल के तौर पर जयपुर आया तो मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और तमाम बड़े अधिकारियों ने मेरा स्वागत किया। मैं इस स्वागत से अभिभूत हंू। राजस्थानियों की मेहनत का उल्लेख करते हुए मिश्र ने कहा कि एक कहावत है, जहां न पहुंचे बैलगाड़ी वहां पहुंचे मारवाड़ी। 
एस.पी.मित्तल


कुछ राजनेताओं की नजरबंदी आवश्यक

कश्मीर में कुछ राजनेताओं की नजरबंदी जरूरी है। 
समाज में जब तक छुआछूत और भेदभाव है तब तक आरक्षण जारी रहेगा। 
असम में हुई एनआरसी में अनेक खामियां। 
पूर्वोत्तर राज्यों से घुसपैठियों को बाहर निकाला जाए-संघ। 

राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के सह सरकार्यवाह दत्तत्रेय होसबोले ने 9 सितम्बर को पुष्कर में पत्रकारों से संवाद करते हुए कहा कि कश्मीर में कुछ राजनेताओं की नजरबंदी जरूरी है। उन्होंने कहा कि सरकार के पास जो सूचनाएं हैं, उसी के आधार पर नजरबंदी की गई है। सरकार की पहली प्राथमिकता कश्मीर घाटी में शांति बनाए रखने की है। यदि किसी राजनेता के बयान से हालात बिगड़ेंगे तो उसे नजरबंद ही किया जाएगा। अनुच्छेद 370 के प्रावधानों को हटा कर केन्द्र सरकार ने बड़ा कदम उठाया है। संघ तो पहले से ही एक देश एक संविधान के पक्ष में रहा है। अनुच्छेद 370 के प्रावधानों को हटा कर जम्मू कश्मीर को देश की मुख्य धारा से जोड़ा गया है। जहां तक संघ की भूमिका बढ़ाने का सवाल है तो संघ पहले से ही जम्मू कश्मीर में सक्रिय रहा है। घाटी में भी कई स्थानों पर संघ की शाखाएं लगती रही हैं। एक सवाल के जवाब में होसबोले ने कहा कि मदरसों को भी राष्ट्रवादी होना चाहिए, इस पर ऐतराज की क्या बात है? उत्तर प्रदेश में गत 15 अगस्त को सभी मदरसों में राष्ट्रगान और झंडा रोहण के आयोजन किए गए। उन्होंने कहा कि अब मुसलमानों की सोच में भी बदलाव हो रहा है, जिसका हम स्वागत करते हैं। आरक्षण समाप्त करने के सवाल पर होसबोले ने कहा कि कई बार मीडिया संघ प्रमुख के बयान को उचित नजरिए से प्रस्तुत नहीं करता है। संघ प्रमुख ने कहा कि जब तक समाज में भेदभाव और छुआछूत है, तब तक आरक्षण भी जरूरी है। यदि छुआछूत और भेदभाव कल ही समाप्त हो जाए तो आरक्षण को भी खत्म कर देना चाहिए। उन्होंने कहा कि संघ आरक्षण को समाप्त करने की राय नहीं रखता है। लेकिन सामाजिक स्थितियों को ध्यान में रखते हुए निर्णय होने चाहिए। असम में हुई एनआरसी के संबंध में होसबोले ने राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ की राय रखते हुए कहा कि अनेक लोगों ने आधार कार्ड, पेन कार्ड, राशन कार्ड आदि दस्तावेज तैयार कर लिस्ट में अपना नाम शामिल करवा लिया है। सरकार को अब ऐसे घुसपैठियों की पहचान करनी चाहिए। सब जानते हैं कि पूर्वोत्तर राज्यों में बड़े पैमाने पर बंगालदेशियों की घुसपैठ हुई है। ऐसे में अब सरकार का दायित्व है कि वह घुसपैठियों को बाहर निकाले। 
एस.पी.मित्तल


पाकिस्तान की चिंता बढ़ी ( विश्लेषण)

भारत-इजरायल के मजबूत जोड़ को तोडऩे के लिए पाकिस्तान दे सकता है इजरायल को मान्यता। पीओके को बचाने की चिंता। 
पाकिस्तान उन मुस्लिम राष्ट्रों में शामिल है जिसने अभी तक भी इजरायल को मान्यता नहीं दी है। हालांकि इजरायल जैसे मजबूत देश को पाकिस्तान की मान्यता की खास दरकार भी नहीं है, लेकिन जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 को हटाने के बाद अब पाकिस्तान को अपने कब्जे वाले कश्मीर की चिंता हो गई है। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान और सेना प्रमुख कमर जावेद बाजवा को डर है कि इजरायल की रणनीति से भारत पीओके को पाकिस्तान से छीन सकता है। पाकिस्तान नहीं चाहता है कि मौजूदा हालातों में पीओके भी हाथ से निकल जाए। पाकिस्तान के लिए चिंता की बात यह भी है कि पीओके में आजादी के लिए आंदोलन भड़क गया है। ऐसे में यदि भारत ने थोड़ी सी भी हवा दे दी तो पाकिस्तान के हाथ से मुज्जफराबाद जैसे क्षेत्र निकल जाएंगे। जानकारों की माने तो अब पाकिस्तान अपनी विदेश नीति में बदलाव करने जा रहा है। इसके अंतर्गत इजरायल को मान्यता देना शामिल हैं। पाकिस्तान को लगता है कि मान्यता देने से इजरायल का झुकाव भारत की ओर कम हो जाएगा और पाकिस्तान, भारत के पीओके पर संभावित हमले से भी बच जाएगा। असल में पूरी दुनिया में इजरायल को ही छापामार और आतंकी कार्यवाहियों से मुकाबला करने तथा फिलीस्तीन के चरमपंथियों को काबू में रखने का लम्बा अनुभव है। यह तो समय ही बताएगा कि पाकिस्तान से मान्यता मिल जाने के बाद इजरायल का भारत के प्रति क्या रुख रहता है, लेकिन फिलहाल भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और इजरायल के पीएम बेंजामिन नेतन्याहू के बीच फेवीकोल वाला मजबूत गठजोड़ है। भारत प्रति वर्ष 7 हजार करोड़ रुपए के सैन्य उपकरण तथा गोला बारुद इजरायल से खरीदता है। पिछले दिनों पाकिस्तान के बालाकोट में भारत ने जो एयर स्ट्राइक की थी उसमें इजरायल निर्मित बम ही गिराए थे। हालांकि यूपीए सरकार में भी भारत और इजरायल के संबंध अच्छे  थे, लेकिन नरेन्द्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने के बाद बिना झिझक के संबंधों को और मजबूत किया गया। भारत का मानना है कि पाकिस्तान द्वारा मान्यता दे दिए जाने के बाद भी भारत-इजरायल  के संबंध पर कोई फर्क नहीं पड़ेगा। असल में कश्मीर मुद्दे पर पाकिस्तान को एक भी मुस्लिम देश का समर्थन नहीं मिलने से पाकिस्तान का अब मुस्लिम देशों से भी मोह भंग हो गया है, इसलिए वह अब इजरायल जैसे देश की ओर देख रहा है। 
एस.पी.मित्तल


चीनी उत्पादक की बिक्री घटी (संपादकीय)

अच्छा काम किया इसलिए तो मोदी सरकार दोबारा से बनी है। 
संघ के अभियान की वजह से चीनी उत्पाद की बिक्री घटी। 
पुष्कर में संघ की अखिल भारतीय समन्वय बैठक का समापन। 

पुष्कर में राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ की तीन दिवसीय अखिल भारतीय समन्वय बैठक का समापन हो गया। इस बैठक में संघ प्रमुख मोहन भागवत तथा 35 संगठनों के करीब 200 पदाधिकारी उपस्थित रहे। भाजपा की ओर से राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा, संगठन महासचिव बीएल संतोष तथा राममाधव उपस्थित थे। बैठक के समापन मौके पर संघ के सह सरकार्यवाह दत्तात्रेय होसबोले ने पत्रकारों के सवालों का जवाब देते हुए कहा कि भाजपा सरकार ने अपने प्रथम कार्यकाल में अच्छे कार्य किए। इसलिए तो दोबारा से भाजपा की सरकार बनी है। होसबोले ने संघ के संगठन स्वदेशी जागरण मंच की भूमिका के बारे में बताया कि विदेशी सामानों के विरोध में जो अभियान चलाया गया, उसी का परिणाम है कि भारत में चीनी सामान की बिक्री तेजी से घटी है। वैसे भी जो सामान अपने देश में तैयार हो रहा है उसे विदेश से नहीं खरीदना चाहिए। बैठक के बारे में जानकारी देते हुए होसबोले ने बताया कि संघ से जुड़े सभी संगठन स्वतंत्र तौर पर काम करते हैं। बैठक में कोई रिपोर्ट प्रस्तुत नहीं की गई। बैठक में संगठनों के प्रतिनिधियों ने अपने अनुभव सांझा किए।  संघ के विभिन्न संगठनों में सक्रिय सात सौ महिला स्वयं सेवकों ने देश के 464 जिलों में जाकर महिलाओं की स्थिति पर सर्वे किया। इस सर्वे की रिपोर्ट को दिल्ली में आगामी 24 सितम्बर को जारी किया जाएगा। उन्होंने इस बात पर अफसोस जताया कि देश में महिलाओं पर अत्याचार और नाबालिग लड़कियों से बलात्कार की घटनाएं हो रही हैं। इन बुराइयों को ठीक करने का दायित्व समाज का है। उन्होंने कहा कि प्लास्टिक के उपयोग को बंद करने पेड़ लगाने और पानी बचाने के लिए आगरा और पुणे में कार्यशाला आयोजित की जाएगी। इस कार्यशाला में पर्यावरण रक्षा एवं संवर्धन विषय पर विशेषज्ञों के विचार सुने जाएंगे। उन्होंने कहा कि हिन्दू समाज अपने पैरों पर खड़ा हो इसके लिए राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ लगातार प्रयास कर रहा है। हिन्दुत्व और राष्ट्रवाद की भावना देश के हर नागरिक में होनी चाहिए। राष्ट्रीय शिक्षा नीति पर अभी मंथन किया जा रहा है। सीमा क्षेत्रों में राष्ट्र विरोधी गतिविधियों को रोकने के लिए संघ की भूमिका को बढ़ाया जाएगा। संघ के विभिन्न संगठनों के कार्यकर्ता सीमा क्षेत्रों में जाकर सरहद प्रणाम कार्यक्रम चलाएंगे। ऐसी शिकायतें मिली है कि सीमा क्षेत्रों में ईसाईकरण और इस्लामीकरण हो रहा है। पूरी दुनिया में सबसे ज्यादा आदिवासी क्षेत्र भारत में हैं। यहां भी धर्मांतरण का रोग है। माओवाद और नक्सलवाद की वजह से आदिवासियों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। हालांकि पिछले पांच वर्षों में केन्द्र सरकार के प्रयासों से ऐसी बुराइयों में कमी आई है। मॉबलिंचिंग की घटनाओं पर होसबोले ने कहा कि संघ कभी भी हिंसा का पक्षधर नहीं रहा है। 
एस.पी.मित्तल


अन्नदाता होने के बाद किसान का शोषण

किसान देश का अन्नदाता होने के बावजूद भी किसानों का ही हो रहा है शोषण पं. सचिन शर्मा 


खुर्जा। जंक्शन पर हुई किसानों की महापंचायत पंचायत में पहुंचे किसान यूनियन अंबावता के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष चौधरी अवनीत पवार व राष्ट्रीय महासचिव प्रवीण शर्मा नीटू(प्रदेश अध्यक्ष) पं. सचिन शर्मा प्रदेश सचिव  ठाकुर मुकेश सोलंकी नगर अध्यक्ष हरि सिंह उर्फ बबलू ने कराई पंचायत पंचायत में किसानों ने रखी (प्रदेश अध्यक्ष) पं. सचिन शर्मा के समक्ष अपनी पीड़ा पीड़ा में मुख्य रूप से बिजली ट्यूबवेल सड़क सरकार की तरफ से नहीं मिल पा रही मदद की लड़ाई लड़ने की बात पंचायत में सामूहिक रूप से रखी गई। जिसमें किसान यूनियन के प्रदेश अध्यक्ष पं. सचिन शर्मा ने कहा कि किसान इस देश का अन्नदाता है। पर अगर अन्नदाता के साथ ही अत्याचार हो रहा है तो यह देश की सबसे बड़ी पीड़ा है ।जिस किसान को महलों का शौक नहीं जिस किसान का ऐडी से लेकर चोटी तक का पसीना मेहनत करते हुए फसल की सिंचाई में लगाता है जिस किसान के पास गाड़ी का सुख नहीं एसी मानो उनके लिए सपना जैसा है हल चलाते चलाते ही जो रोटी खाता है खेतों में बैठकर जिसका पूरा परिवार दिन और रात की मेहनत करके उसको तैयार करता है जैसन को पूरा भारत देश खाता है चाहे कोई कितना भी बड़ा रहीस हो अन्य के बिगर नहीं रह सकता आज उस अन्नदाता को परेशान होना पड़ता है उसका उत्पीड़न हो रहा है। यह मेरे होते हुए बिल्कुल भी नहीं होने दिया जाएगा। मैं इसकी लड़ाई मरते दम तक लडूंगा।


जब तक किसानों को उनका हक नहीं मिलता किसान यूनियन चुप बैठने वालों में से नहीं है हम इस ओर से उस ओर तक किसान भाइयों के हक की लड़ाई निरंतर लड़ते रहेंगे और एक दिन ऐसा आएगा जरूर मेरा पूर्ण विश्वास है जब देश का अन्नदाता सबसे सुखी व सबसे संपन्न होगा इस दौरान किसान यूनियन के प्रदेश अध्यक्ष पं. सचिन शर्मा एवं राष्ट्रीय उपाध्यक्ष चौधरी अवनीत पवार एवं राष्ट्रीय महासचिव प्रवीण शर्मा उर्फ नीतू प्रदेश सचिव ठाकुर मुकेश सोलंकी संगठन का विस्तार करते हुए नियुक्ति पत्र बांटे नियुक्ति पत्र में कमलेश जी को महिला मोर्चा की जिला अध्यक्ष बुलंदशहर हरि सिंह बबलू को नगर अध्यक्ष खुर्जा का दायित्व सौंपा गया एवं सभी ने उनके उज्जवल भविष्य की कामना की


जब किसानों पर फसल उगाने का ही पैसा नहीं तो वह कहां से देंगे टोल


गवाना अलीगढ़ टोल पर किसान यूनियन के प्रदेश अध्यक्ष पं. सचिन शर्मा जब अपनी टीम के साथ पहुंचे तो उन्होंने देखा कि किसान जोकि अपने ट्रैक्टर पर फसल लेकर जा रहा था उससे भी टोल वाले जबरदस्ती टोल वसूल रहे थे। किसान की पीड़ा पं. सचिन शर्मा पर जब सहन नहीं हुई तो उन्होंने पूरी टीम के साथ टोल पर ही धरना प्रदर्शन किसानों की समस्याओं को लेकर जारी कर दिया। जिसे देख आसपास के गांव की भीड़ भी उम्र पड़ी उसका नतीजा यह निकला कि किसानों के लिए हमेशा टोल को माफ कर दिया गया इससे खुश किसानों ने चौधरी अवनीत पवार व  प्रदेश अध्यक्ष पं. सचिन शर्मा एवं उनकी समस्त टीम का फूल माला उसे जोरदार स्वागत व अभिनंदन किया


अलीगढ़ के गांव करौली मैं किया प्रदेश अध्यक्ष पं. सचिन शर्मा ने संगठन का विस्तार


अलीगढ़ के गांव करौली मैं ठाकुर विनोद सिंह के नेतृत्व में एक महासभा का आयोजन किया गया। जिसमें मुख्य अतिथि के तौर पर राष्ट्रीय उपाध्यक्ष चौधरी अवनीत पवार राष्ट्रीय महासचिव प्रवीण शर्मा नीटू के प्रदेश अध्यक्ष पं. सचिन शर्मा एवं राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अवनीत पवार मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित रहे। इस मौके पर पं. सचिन शर्मा ने संगठन का विस्तार करते हुए ठाकुर विनोद सिंह को जिला अध्यक्ष अलीगढ़ मनोनीत किया गया। इस दौरान प्रदेश अध्यक्ष है नवनियुक्त पदाधिकारी को शुभकामनाएं देते हुए कहा कि संगठन में दायित्व लेना बड़ी बात नहीं है। बड़ी बात जब है जब उस दायित्व का आप पूरी ईमानदारी व निष्ठा के साथ निर्वाह करो किसान यूनियन अंबावता किसी स्वार्थ के कारण राजनीतिक पार्टियों की तरह काम नहीं करती है किसान यूनियन तो किसानों की वह गरीबों की असहाय लोगों की मदद के लिए आगे आती हैकिसान यूनियन गीता के उपदेश की तरह काम करती है कि कर्म कर्म और फल की इच्छा मत करो और जैसे तू कर्म करेगा वैसे भगवान श्रीकृष्ण आपको फल देंगे तो हम लोग अपने कर्म पर विश्वास रखते हैं कर्म को ही प्रधान मानते हैं इसीलिए निस्वार्थ भाव से हमेशा जनता जनार्दन के बीच उपस्थित होकर उनकी सेवा करते हैं मैं जिला अध्यक्ष जी को भी आज बधाई के साथ-साथ यह भी कहना चाहता हूं कि वह भी किसान यूनियन का नाम पूरे जिले में ही नहीं प्रदेश में बढ़ाने का काम करेंगे।


प्रदेश अध्यक्ष के दौरे के दौरान कई जिलों में संगठन के कार्यकर्ताओं ने किया जोरदार स्वागत पं. सचिन शर्मा ने जताया कार्यकर्ताओं का आभार
प्रदेश में दौरे के दौरान किसान यूनियन के कार्यकर्ताओं ने अलग-अलग जिले में उपाध्यक्ष चौधरी अवनीत पवार व प्रदेश अध्यक्ष पं. सचिन शर्मा और उनकी समस्त टीम का जोरदार स्वागत फूल माला पहनाकर व ढोल नगाड़ों के साथ किया स्वागत में मुख्य रूप से कासगंज हाथरस अलीगढ़ बुलंदशहर आदि जिलों में कार्यकर्ताओं ने बड़े ही जोश के साथ किया भव्य स्वागत प्रदेश अध्यक्ष ने किया सभी कार्यकर्ताओं का आभार और संगठनों में जी जान से मेहनत करने की की अपील आगामी 2 अक्टूबर को राजघाट पर महापंचायत में ज्यादा से ज्यादा ताकत में पहुंचने की की किसान भाइयों से पं. सचिन शर्मा ने अपील पंचायत में उपस्थित रहे मुख्य रूप से गाँव कदोली अलीगढ़ चौधरी नरेंद्र नेता जी ठा.रघुराज सिंह दुर्गेश सिंह  जिला प्रभारी युवा प्रदेश सचिव केशव चौधरी पूर्वी दिल्ली अध्यक्ष योगेश हसनपुरिया धर्मेंद्र रावल महाकार कसाना जी  भोला सिंह चेतन ठाकुर युवा महानगर अध्यक्ष गौरव यादव रिंकू यादव दुर्गेश सिंह तहसील अध्यक्ष सुरेश सिंह ब्लॉक अध्यक्ष जवां चौधरी राजवीर सिंह जिला प्रभारी बुलंदशहर आदि दर्जनों ग्राम प्रधान व ग्राम पंचायत सदस्य उपस्थित रहे।


मुंसिफ-ग्रामीण न्यायालय स्थापना की मांग

सुदेश कुमार शर्मा


मुसिंफ न्यायालय-ग्रामीण न्यायालय स्थापना की मांग की।
मोदीनगर। राष्ट्रीय सूचना अधिकार टास्क फोर्स के मुख्यालय पर राष्ट्रीय अध्यक्ष व उपाध्यक्ष अनवर खान ने माननीय रजिस्ट्रार, उच्च न्यायलय, इलाहाबाद को पत्र के माध्यम से  मोदीनगर नगर में मुसिंफ न्यायालय एवं ग्रामीण न्यायालय स्थापित करने की माँग की है। पत्र के सन्दर्भ में संस्था के राष्ट्रीय अध्यक्ष  सुरेश शर्मा ने बताया कि  जनपद गाजियाबाद के मोदीनगर में वर्ष 1990 में तहसील की स्थापना की गई। परन्तु वर्ष 1990 से लेकर आज तक मोदीनगर में मुंसिफ न्यायालय एवं  ग्रामीण न्यायालय की स्थापना उ0प्र0 शासन एवं माननीय न्यायालय द्वारा नही की गई है। जबकि माननीय उच्च न्यायालय एवं उ0प्र0 शासन  का भी यह दृष्टिकोण रहा हैं कि न्याय पीड़ित के द्वार तक पहुँचे। मोदीनगर क्षेत्र में मुंसिफ न्यायालय एवं म ग्रामीण न्यायालय की स्थापना हेतु संस्था द्वारा वर्षों से मांग की जा रही है। प्रषासन के सहयोग से नगर पालिका परिषद मोदीनगर द्वारा मुंसिफ न्यायालय एवं ग्रामीण न्यायालय की जनहित में स्थापना किये जाने हेतु स्थान उपलब्ध करा दिया गया है। किन्तु अभी तक भी मुंसिफ न्यायालय एवं ग्रामीण न्यायालय स्थापित नही की जा सकी है।
उन्होनें बताया कि मोदीनगर औद्योगिक नगर के नाम से जाना जाता था। परन्तु जब से मोदी स्पिनिंग एण्ड विविंग क0 लि0, मोदी स्टील फैक्ट्री, मोदी लालटेन फैक्ट्री, मोदी वनस्पति मैन्यू0क0 एवं0 मोदीपोन लि0 फैक्ट्रियां आदि बन्द हो गई जब से मोदीनगर की स्थिति दयनीय हो गई, हजारों लोग बेरोजगार हो गए है जिसका असर समाज एवं व्यापार पर भी पड़ा है। संस्था द्वारा मोदीनगर मुंसिफ न्यायालय की स्थापना की मांग पिछले काफी समय से की जा रही है, क्योंकि मोदीनगर में मुंसिफ न्यायालय न होने के कारण मोदीनगर तहसील क्षेत्र के नगर एवं ग्रामीण जनता को न्याय के लिए लगभग तीस किलोमीटर दूर जनपद न्यायालय, गाजियाबाद में जाना पड़ता है। जनपद न्यायालय दूर होने के कारण मोदीनगर तहसील क्षेत्र के नगर एवं ग्रामीण जनता को अपनी दयनीय स्थिति में धन की बर्बादी के साथ ही समय की हानि भी सहनी पड़ती है। मुंसिफ न्यायालय एवं ग्रामीण न्यायालय की स्थापना के लिए बार एसोसिएशन मोदीनगर के अध्यक्ष अनिल चौधरी एडवोकेट, अधिवक्ता बार एसोसिएशन के अध्यक्ष अमर दीप नेहरा,बार अध्यक्ष तहसील मोदीनगर के अध्यक्ष अमित नेहरा ने राष्ट्रीय सूचना अधिकार टास्क फोर्स को अपना समर्थन दिया है।


बुर्किना फासो आतंकी हमलों में 29 की मौत

बुर्किना फासो। पश्चिम अफ्रीका का 'लैंडलॉक' देश उत्तरी बुर्किना फासो में दो अलग-अलग आतंकवादी हमले में कम से कम 29 आम नागरिक मारे गए हैं। स्थानीय मीडिया सोमवार को बताया कि आतंकवादियों ने यह हमला रविवार की रात को की। पहली घटना में आतंकवादियों द्वारा किये गए कार बम विस्फोट में पांच लोग मारे गये तथा छह अन्य लोग घायल हो गई जबकि दूसरी घटना में खाद्य पदार्थों को लेकर जा रहे कुछ मोटरसाइकिल सवारों पर आतंकवादियों ने गोलीबारी की जिसमें 14 से अधिक लोग मारे गये।
यह घटना पहली घटना वाली जगह से लगभग 50 किलोमीटर दूर घटी। स्थानीय मीडिया बुर्किना 24 की रिपोर्ट के अनुसार इन नृशंस हत्याओं के बाद परिवहन सुरक्षा को सुनिश्चित कराने के लिए सभी जरूरी कदम को उठाने का आश्वासन दिया है। उल्लेखनीय है कि बुर्किना फासो अंसारूल इस्लाम तथा उसके समर्थक समूह इस्लाम एंड मुस्लिम्स के आतंकवादियों के कारण सुरक्षा चुनौतियों का सामना कर रहा है। इन दोनों समूहों के आतंकवादी लगातार आम लोगों को निशाना बनाते रहते हैं।


यात्री बस पलटने से 14 लोगों की मौत

राबत। मोरक्को के पूर्वी प्रांत इर्राचिडिया में यात्री बस के पलटने से कम से कम 14 लोगों की मौत हो गयी है तथा 29 से अधिक अन्य घायल हुए हैं। मीडिया रिपोर्ट में सोमवार को बताया गया कि उक्त बस रविवार को एक पुल पर पलट गयी। आशंका जतायी जा रही है कि यह दुर्घटना बाढ़ के कारण हुई होगी।


2एम चैनल ने अपनी रिपोर्ट में बताया कि अभी तक हताहतों की वास्तिवक संख्या के बारे में जानकारी नहीं मिल पायी है। राहत और बचाव कार्य जारी है।


जल्द होंगे 'उत्तर-प्रदेश' के तीन टुकड़े

विजय आनंद वर्मा


लखनऊ। उत्तर प्रदेश' बहुत जल्द ही कुल 20 जिलों का ही राज्य रह जायेगा, पर इसकी राजधानी लखनऊ ही रहेगी। उ.प्र. तीन हिस्सों (उ.प्र., पूर्वांचल एवं बुंदेलखण्ड) में बंट जायेगा, एक की राजधानी गोरखपुर होगी जबकि तीसरे राज्य की राजधानी प्रयागराज (इलाहाबाद) होगी ? उत्तर प्रदेश को विभाजित कर पूर्वांचल एवं बुंदेलखण्ड राज्य बनाये जाने की चली आ रही काफी पुरानी मांग को देखते हुए केंद्र की भाजपा सरकार शीघ्र ही इस बारे में निर्णय लेने जा रही है ? ऐसा सूत्रों का कहना है। सूत्रों की माने तो नरेन्द्र मोदी की सरकार अपने दूसरे कार्यकाल में जल्द ही ये बड़ा फैलसा लेने की तैयारी कर रही है।


पूर्वांचल एवं बुंदेलखण्ड के नाम से दो नये राज्यों का होगा गठन


अगर ऐसा होता है तो यूपी और दिल्ली सहित कई राज्यों की समस्याओं पर एक साथ काबू पाया जा सकेगा। सूत्र यह भी बताते हैं कि यूपी के तीन हिस्से करने के साथ ही दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा भी देने की कवायद शुरू हो गयी है। दिल्ली का लुटियन जोन केन्द्र सरकार अपने पास रखने की घोषणा कर सकती है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार भारतीय जनता पार्टी ने हाई लेवल पर इस तरह का एक रोडमैप तैयार कर लिया है जिमसें दिल्ली के लिए हरियाणा से सोनीपत, रोहतक, झज्जर, गुरूग्राम, रिवाड़ी, नूह (मेवात), पलवल और फरीदाबाद, यूपी से मेरठ मंडल से बागपत, गाजियाबाद, नोएडा, हापुड़, बुलंदशहर और मेरठ शामिल किए जा सकते हैं दिल्ली प्रदेश में। वहीं सहारनपुर मंडल के सभी तीनों जनपद हो सकते हैं हरियाणा में शामिल जबकि मुरादाबाद मंडल हो सकता है उत्तराखंड में शामिल पूर्वांचल के नाम से बनने वाले नये राज्य की संभावित राजधानी गोरखपुर होगी। इसमें गोरखपुर मंडल से गोरखपुर, देवरिया, कुशीनगर और महाराजगंज तथा आजमगढ़ मंडल से आजमगढ़, बलिया और मऊ, बस्ती मंडल से बस्ती, संतकरीबनगर एवं सिद्धार्थनगर, देवीपाटन मंडल से गोंडा, बहराइच, बलरामपुर और श्रावस्ती तथा अयोध्या संभाग से अयोध्या, अम्बेडकरनगर, सुल्तानपुर, अमेठी और बाराबंकी के अलावा वाराणसी मंडल से वाराणसी, चंदौली, गाजीपुर, जौनपुर सहित कुल 23 जनपद का नया राज्य होगा। उत्तर प्रदेश का तीसरा भाग जो बुंदेलखण्ड राज्य कहलाएगा उसकी संभावित राजधानी प्रयागराज (इलाहाबाद) होगी। इसमें प्रयागराज, फतेहपुर, कौशाम्बी और प्रतापगढ़ तथा चित्रकूट संभाग से चित्रकूट, बांदा, हमीरपुर एवं महोबा व झांसी संभाग से झांसी, जालौन तथा ललितपुर एवं मिर्जापुर संभाग से मिर्जापुर, संत रविदास नगर और सोनभद्र के अलावा कानपुर मंडल से जनपद कानपुर, कानपुर देहात तथा औरैया को मिलाकर कुल 17 जनपदों का हो सकता है बुंदेलखण्ड राज्य। शेष भाग पूर्ववतः राजधानी लखनऊ के नाम के साथ ही 'उत्तर प्रदेश' ही बना रहेगा, इसमें लखनऊ मंडल से लखनऊ, हरदोई, लखीमपुर-खीरी, रायबरेली, सीतापुर और उन्नाव एवं आगरा मंडल से आगरा, फिरोजाबाद, मैनपुरी व मथुरा तथा अलीगढ़ मंडल से अलीगढ़, एटा, हाथरस और कासगंज के अलावा बरेली मंडल से बंदायू, बरेली, पीलीभीत और शाहजहांपुर तथा कानपुर संभाग से फरूर्खाबाद व कन्नौज को इसी में मिलाकर कुल बीस जनपदों का राज्य रह जाएगा उत्तर प्रदेश।


मंत्री का चालान नहीं,पुलिसकर्मी निलंबित

पटना। वाहन चेकिंग के दौरान रविवार को केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे की कार को बिना कार्रवाई के छोड़े जाने पर एसआई समेत तीन पुलिसकर्मियों को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया। जबकि कुछ ही समय बाद सांसद रामकृपाल यादव की कार में काली फिल्म लगी पाई तो यातायात पुलिस ने एक हजार रुपए जुर्माना लगाया। दोनों नेताओं की गाड़ी में उनके बेटे और परिवार के सदस्य थे।
बिहार म्यूजियम के पास सुबह 11 से शाम 5 बजे तक विशेष चेकिंग अभियान चलाया गया। यहां दोपहर एक बजे पुलिस ने केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे की गाड़ी को रोका। आगे की सीट पर उनका बेटा और बहू बिना सीट बेल्ट बांधे बैठे थे, जबकि पिछली सीट पर उनकी पत्नी बैठी थीं। मंत्री के बेटे ने गाड़ी को बिहार म्यूजियम के गेट से 100 मीटर आगे रोका। पुलिस ने कार्रवाई की जगह गाड़ी को आधा घंटे तक रोके रखा।
मंत्री परिवार पुलिस कार्रवाई का इंतजार करता रहा


कुछ देर तक पुलिस की कार्रवाई का इंतजार करने के बाद मंत्री का बेटा गाड़ी लेकर चला गया। इसकी जानकारी प्रमंडलीय आयुक्त को हुई तो उन्होंने मौके पर मौजूद एसआई देवपाल पासवान, बीएमपी-2 के सिपाही पप्पू कुमार और जिला पुलिस के सिपाही दिलीप चंद्र सिंह को निलंबित करने का आदेश दिया।


स्विस बैंक ने साझा की कालेधन की सूची

नई दिल्‍ली। स्विस बैंकों में पैसे रखने वाले भारतीयों के खातों से जुड़ी जानकारियां भारत को मिलनी शुरू हो गई हैं। स्विट्जरलैंड ने स्वचालित व्यवस्था के तहत इस महीने पहली बार कुछ सूचनाएं भारत को उपलब्ध कराई हैं। इन सूचनाओं के विश्लेषण की तैयारी चल रही है और इनमें खाताधारकों की पहचान तय करने के लिए पर्याप्त सामग्री उपलब्ध होने का अनुमान है। बैंकों और नियामकीय संस्थाओं के अधिकारियों ने बताया कि ये सूचनाएं मुख्यत:उन खातों से जुड़ी हैं,जिन्हें लोगों ने कार्रवाई के डर से पहले ही बंद करा दिया है। बैंक अधिकारियों ने कहा कि स्विट्जरलैंड की सरकार के निर्देश पर वहां के बैंकों ने डेटा इकट्ठा कर भारत को सौंपा। इसमें हर उस खाते में लेन-देन का पूरा विवरण दिया गया है,जो 2018 में एक भी दिन सक्रिय रहे हों। उन्होंने कहा कि यह डेटा इन खातों में अघोषित संपत्ति रखने वालों के खिलाफ ठोस मुकदमा तैयार करने में बेहद सहायक साबित हो सकता है। इसमें जमा, हस्तांतरण तथा प्रतिभूतियों एवं अन्य संपत्ति श्रेणियों में निवेश से प्राप्त आय की पूरी जानकारी दी गई है।
एनआरआई बिजनसमैन से जुडे़ खाते 
कई बैंक अधिकारियों और नियामकीय अधिकारियों ने नाम गोपनीय रखने के अनुरोध के साथ कहा कि ये जानकारियां मुख्यत:कई दक्षिण-पूर्वी एशियाई देशों, अमेरिका, ब्रिटेन,कुछ अफ्रीकी देशों तथा द. अमेरिकी देशों में रह रहे अनिवासी भारतीयों सहित व्यवसायियों से संबंधित हैं। बैंक अधिकारियों ने माना कि कभी पूरी तरह से गोपनीय रहे स्विस बैंक खातों के खिलाफ वैश्विक स्तर पर शुरू हुई मुहिम के बाद पिछले कुछ सालों में इन खातों से भारी स्तर पर पैसे निकाले गए और कई खाते बंद हो गए। हालांकि, साझा की गई जानकारियों में उन खातों की भी सूचनाएं शामिल हैं, जिन्हें 2018 में बंद करा दिया गया। 100 बंद खातों का भी ब्योरा दिया। इसके अलावा, भारतीय लोगों के कम से कम 100 वे पुराने खाते भी हैं, जिन्हें 2018 से पहले ही बंद करा दिया गया। स्विट्जरलैंड इन खातों की जानकारियों को भी यथा शीघ्र साझा करने की प्रक्रिया में है। ये खाते वाहन कल-पुर्जा, रसायन, वस्त्र, रीयल एस्टेट, हीरा एवं आभूषण, इस्पात आदि कारोबार से जुड़े लोगों से संबंधित हैं। नियामकीय अधिकारियों ने कहा कि स्विस बैंकों से प्राप्त जानकारियों के विश्लेषण में उन सूचनाओं पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है,जो राजनीतिक संपर्क रखने वाले लोगों से संबंधित हैं।


भाकियू ने बताई किसान सगंठन की ताकत

फिरोज खान


मुजफ्फरनगर। भारतीय किसान यूनियन (अमबावता) के पदाधिकारियों का फूल मालाओं से जोर दार स्वागत किया। भारतीय किसान यूनियन अमबावता की एक सभा बघरा ब्लाक स्‍थित गांव जसोई में आज जिला अध्यक्ष मौ शाह आलम के नेतृत्व में हुई। जिसकी अध्यक्षता  बिरज दास जी ने की और संचालन  जाबिर पटवारी ने किया किसानों ने भाकियु अमबावता के पदाधिकारियों को अपनी समस्याओं से अवगत कराया। जिसपर किसानों को सम्बोधित करते हुए जिला अध्यक्ष मौ शाह आलम ने सभी किसान भाईयों को संगठन की ताकत से अवगत कराया। वह सभी समस्याओं का समाधान कराने का आश्वासन दिया। सभा के बाद जिला अध्यक्ष मौ शाह आलम ने जनेश कुमार को बघरा ब्लाक अध्यक्ष और प्रदीप कुमार को ब्लाक उपाध्यक्ष की कमान सोपी इस मौके पर राष्ट्रीय महासचिव यौगिंदर राठी जी राष्ट्रीय उपाध्यक्ष गुलजार अहमद जिला अध्यक्ष मौ शाह आलम यूवा जिला अध्यक्ष अंकूल राठी पूरकाजी ब्लाक अध्यक्ष परवेज सोनू पूरकाजी ब्लाक उपाध्यक्ष सालिम तियागी सोरव वसीम आदि सैकड़ो की संख्या में किसान मौजूद रहे।


कांग्रेस की प्रवर्तन निदेशालय में शिकायत

रायपुर। अंतागढ़ टेपकांड मामले में कांग्रेसी प्रवर्तन निदेशालय में शिकायत दर्ज कराने पहुंचे। विधायक विकास उपाध्याय, कुलदीप जुनेजा, महापौर प्रमोद दुबे सहित अन्य नेता यह मांग लेकर ईडी के ऑफिस पहुंचे। विधायक विकास उपाध्याय ने कहा कि अंतागढ़ में भ्रष्टाचार के पैसों के इस्तेमाल पर प्रवर्तन निदेशालय में शिकायत करने आए हैं। कांग्रेस ने पूछा है कि मंतूराम के बयान के अनुसार 7.5 करोड़ रुपए कहां से आए। विधायक विकास उपाध्याय, कुलदीप जुनेजा, किरणमयी नायक और प्रमोद दुबे अभी ईडी के कार्यालय में मौजूद हैं। विकास उपाध्याय ने कहा कि ईडी के अफसर शिकायत लेने में आनाकानी कर रहे हैं। हमारे प्रतिनिधिमण्डल की अधिकारियों से बहस भी हुई लेकिन वे शिकायत लेने में आनाकानी कर रहे हैं।


पूरा भारत घुसपैठिया मुक्त करेंगे: शाह

गुवाहाटी। केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह गुवाहाटी में नॉर्थ-ईस्ट डेमोक्रेटिक अलायंस कॉन्क्लेव में हिस्सा लेने के लिए पहुंचे हैं। यहां उन्होंने लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि हर राज्य भारत का अभिन्न हिस्सा है। जमीनी स्तर पर इस भावना को फैलाने के लिए पूर्वोत्तर को 'कांग्रेस मुक्त' बनाना महत्वपूर्ण है। कांग्रेस ने पूर्वोत्तर को देश के बाकी हिस्सों से अलग-थलग कर दिया था। कांग्रेस ने पूर्वोत्तर में बांटो और राज करो की नीति का अनुसरण किया। आज, मुझे खुशी है कि पूर्वोत्तर के सभी आठ राज्य एनईडीए के साथ हैं। शाह ने कहा कि आजादी के बाद से 2014 तक कांग्रेस ने नॉर्थ ईस्ट में भाषा, जाति, संस्कृति, क्षेत्र विशेष के आधार पर झगड़े पैदा किए। इससे पूरा नॉर्थ ईस्ट अशांति का गढ़ बन गया। यहां विकास की जगह भ्रष्टाचार को अहम जगह देने का काम कांग्रेस ने किया। नॉर्थ ईस्ट में आतंकवाद की समस्या को सुलझाने के बजाए कांग्रेस ने इसे और फैलाया और अपना राज बना रहे ऐसी नीति पर चलते रहे।


नूपुर ने अमेरिका में बिखेरी अपनी प्रतिभा

योगेश गौड़


हापुड। अग्नि फाउंडेशन के द्वारा अमेरिका की आउसटिन सिटी के दक्षिण हिस्से में निवास कर रहे एशिया के लोगों के बीच से प्रतिभाओं की खोज करने के लिए उत्सव एक रात के लिए कार्यक्रम का आयोजन किया गया था। कार्यक्रम में मंच का संचालन हापुड़ निवासी वरिष्ठ कांग्रेसी नेता अशोक शर्मा बंदूक वालो की पुत्री नूपुर शर्मा ने बड़ी ही कुशलता से किया। अशोक शर्मा ने बताया कि उनकी पुत्री नूपुर शर्मा अमेरिका के आउसटिन शहर में रहती है, शर्मा ने बताया कि उनकी पुत्री नूपुर बचपन से ही बहुमुखी प्रतिभा की धनी है। उन्होंने बताया कि नूपुर स्कूल कॉलेज में आयोजित होने वाले सांस्कृतिक कार्यक्रमों में बढ़-चढ़कर हिस्सा लेती थी, इन कार्यक्रमों में नूपुर शर्मा को कई पदक और ट्रॉफीया भी प्रदान की गई थी। अशोक शर्मा के अनुसार उनकी पुत्री आउसटिन अमेरिका में एशियाई लोगों का विभिन्न कार्यक्रमों में प्रतिनिधित्व करती रहती है, इसी कड़ी में गत दिनों नूपुर ने वहां आयोजित एक फैशन शो में रैंप पर कैटवॉक कर अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाया था। कार्यक्रम को सफल बनाने में प्रकाश मोहनदास प्रियंका सिंह का विशेष योगदान रहा कार्यक्रम के प्रत्यय प्रतिभागियों का मेकअप और सात सज्जा रितु गडकरी ने की।


भारी बारिश से जन-जीवन अस्त-व्यस्त

भोपाल। मध्यप्रदेश में हो रही भारी बारिश से जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। लगातार हो रही बारिश के कारण भोपाल सहित 30 जिलों में स्थिति गंभीर हो गई है।
राज्य आपदा मोचन बल के जवान पानी में फंसे हुए लोगों के बचाव कार्य में लगे हुए हैं। प्रशासन ने भोपाल, विदिशा, सीहोर, रायसेन, मंडला, उज्जैन और नरसिंहपुर जिलों में 12 वीं तक के स्कूलों में 9 सितंबर को अवकाश घोषित कर दिया गया है। मौसम विभाग के अनुसार सोमवार और मंगलवार को प्रदेश के भोपाल, होशंगाबाद, जबलपुर, खंडवा, खरगोन, रासयेन, सीहोर में भारी बारिश हो सकती है। राजधानी भोपाल में रविवार को 9 घंटे में 6 सेमी। पानी गिरा। इससे सड़कों और निचली बस्तियों में पानी भर गया। भारी बारिश के कारण हरदा जिला जेल के दो बैरकों को खाली कराया गया है। जेल प्रशासन ने इसमें रहने वाले कैदियों को दूसरे सुरक्षित स्थान पर शिफ्ट किया है।
 
बारिश की वजह से सिर्फ इंसान ही नहीं, बल्कि भगवान भी बाढ़ का कहर झेल रहे हैं। लगातार भारी वर्षा से नदियों का पानी खतरनाक स्तर तक पहुंचने लगा है। खरगोन जिले के महेश्वर में नर्मदा नदी के सभी किनारे और घाट डूब गए हैं। घाट पर बने शिवलिंग जलमग्न हैं। मुख्य घाट पर हनुमान की प्रतिमा का आधा हिस्सा भी बाढ़ में डूबा हुआ है। प्रशासन ने नर्मदा का जलस्तर बढ़ते देख श्रद्धालुओं, पर्यटकों और साधु-संतों से अपील की है कि वे नदी से दूर रहें।


रामपुर में रात्रि विश्राम करेंगे अखिलेश यादव

लखनऊ। 80 मुकदमों में घिरे आजम खान के समर्थन में समाजवादी पार्टी सड़कों पर उतरने जा रही है। सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव के निर्देश पर पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव सोमवार को रामपुर कूच करेंगे। प्लान के मुताबिक अखिलेश यादव रामपुर में रात्रि विश्राम करेंगे।


 
साथ ही आजम खान और उनके परिवार से मुलाकात भी करेंगे। अखिलेश के रामपुर कूच को सफल बनाने के लिए आस-पास के जिलों के कार्यकर्ताओं को भी एक्टिव किया जा रहा है। बता दें आजम खान पर लगातार दर्ज हो रहे मुकदमों के बावजूद समाजवादी पार्टी कोई एक्शन नहीं ले रही थी। इसके बाद आजम की पत्नी ताजिम फातिमा ने सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव से मुलाकात कर मदद की गुहार लगाई थी। इसके बाद 3 सितंबर को मुलायम ने प्रेस कांफ्रेंस कर आजम खान के लिए आंदोलन का आह्वान किया था। मुलायम के इस निर्देश के बाद अखिलेश ने सोमवार को रामपुर कूच करने का फैसला लिया हैं ।


अतीक का करीबी कर रहा अवैध प्लाटिंग

प्रयागराज। कभी अतीक अहमद गिरोह का सक्रिय सदस्य रहा कमरूल हसन उर्फ कम्मू अवैध प्लाटिंग कर रहा है। बड़ी बात यह है कि उसके खिलाफ कोर्ट से वारंट भी जारी है। शिकायत पर कैंट पुलिस ने कम्मू, उसके भाई व 10-15 अज्ञात के खिलाफ मुकदमा लिखकर जांच शुरू कर दी है।
 रिपोर्ट बेली गांव निवासी मो. इसराइल ने लिखाई है। उसने बताया कि बेली गांव निवासी सायमा बेगम ने 1996 में उसे नसीबपुर बख्तियारी स्थित जमीन को बुवाई व जोताई के लिए दिया था। क्योंकि वह अपनी जमीन पर काश्तकारी करने में असमर्थ थीं।
 तब से वह ही इस जमीन पर काबिल है और फसल इसके मालिक को देता आ रहा है। आरोप है कि तब से कम्मू और उसका भाई फकरूल हसन उर्फ फक्कू निवासी बेलीगांव इस जमीन पर कब्जे के प्रयास में जुटे हैं


वंदे भारत एक्सप्रेस के इंजन में आई खराबी

दो घंटे से ज्यादा देर तक खड़ी रही ट्रेन, जंक्शन पर यात्री हुए परेशान
प्रयागराज। वाराणसी से नई दिल्ली जा रही वंदे भारत एक्सप्रेस के इंजन में रविवार को खराबी आ गई। इस वजह से ट्रेन इलाहाबाद जंक्शन 3.41 घंटे की देरी से रात 8.15 बजे पहुंची।
फरवरी माह से शुरू हुई वंदे भारत का यह पहला मौका रहा कि जब ट्रेन यहां इतनी लेट आई। बताया जा रहा है कि इंजन के पेंटों में आई खराबी की वजह से ही ट्रेन रविवार को मंडुवाडीह-हरदत्तपुर रेलवे स्टेशन के बीच दो घंटे से ज्यादा समय तक खड़ी रही। चर्चा इस बात की है वहां ओएचई में भी गड़बड़ी हुई । इसे लेकर यात्रियों ने भी खूब हो हल्ला किया। जंक्शन पर भी ट्रेन को इंतजार कर रहे यात्रियों को परेशानी हुई। ज्यादा लेट होती देख जंक्शन पर कुछ यात्रियों ने अपने टिकट भी निरस्त करवा दिए।


वकीलों के आंदोलन पर हो सकता है फैसला

प्रयागराज। राज्य शिक्षा सेवा अधिकरण को लेकर लगातार जारी वकीलों के आंदोलन को लेकर सोमवार को बड़ा फैसला हो सकता है। इस मुद्दे पर सुबह नौ बजे से आम सभा की बैठक बुलाई गई है।
 
हाईकोर्ट बार एसोसिएशन और एक्शन कमेटी ने वकीलों से हड़ताल समाप्त कर काम पर लौटने की अपील करने का निर्णय लिया है। उम्मीद है कि अधिवक्ता इस पर राजी हो जाएंगे। अधिकरण को लेकर दाखिल जनहित याचिका पर भी सोमवार को सुनवाई होनी है। मुख्य न्यायाधीश ने गोविंद माथुर ने भी वकीलों से हड़ताल समाप्त कर याचिका पर बहस करने की अपील की है। सरकार से मिले संकेत के मद्देनजर हाईकोर्ट बार एसोसिएशन और वरिष्ठ अधिवक्ताओं की एक्शन कमेटी सोमवार सुबह आमसभा की बैठक में वकीलों से काम पर लौटने की अपील करेगी और वकील तैयार हुए तो न्यायिक कार्य शुरू हो जाएगा।


खाई में गिरी कार 4 लोगों के शव बरामद

 नई दिल्‍ली। मध्य प्रदेश के सीहोर जिले में सोमवार की सुबह हुए सड़क हादसे के बाद एक कार नाले में जा गिरी। मिली जानकारी के मुताबिक हादसे के दौरान कार में 5 लोग मौजूद थे, जिनमें से 4 लोगों का शव बरामद कर लिया गया है, जबकि एक युवक का अभी भी पता नहीं चल सका है। लापता युवक को ढूंढने के लिए रेस्क्यू ऑपरेशन जारी है, लेकिन कई घंटों बाद भी युवक का कोई पता नहीं चल सका है. घटना सीहोर के जता खेड़ा गांव के पास की है, जहां दुर्घटना के बाद कार अनियंत्रित होकर नाले में जा गिरी और चार लोगों की घटना स्थल पर ही मौत हो गई।


घटना की जानकारी देते हुए पुलिस ने बताया कि चारों युवक भोपाल के ही रहने वाले थे और आशिमा मॉल के सामने स्थित एक कार शोरूम में काम करते थे। ये युवक एक मीटिंग में शामिल होने के लिए इंदौर गए थे, जहां से लौटते वक्त यह हादसा हो गया और चार युवकों की मौत हो गई। घटना की जानकारी मिलने के बाद बचाव दल के साथ पुलिस घटनास्थल पर पहुंची, जहां चार युवकों के शव बरामद कर लिए गए, जबकि एक की तलाश अभी जारी है। पुलिस ने शव के तेज बहाव के साथ बह जाने की आशंका जाहिर की है।


जम्मू-कश्मीर, हिमाचल में भूकंप के झटके

नई दिल्ली । देश के दो उत्‍तरी राज्‍य जम्‍मू कश्‍मीर और हिमाचल प्रदेश आज भूकंप के झटकों से हिल गए। आज दोपहर करीब 12.30 बजे ये भूकंप के झटके महसूस किए गए। रिक्‍टर पैमाने पर भूकंप की तीव्रता 5.0 आंकी गई है। हिमाचल प्रदेश के चंबा इलाके में लगातार दूसरे दिन भूकंप के झटके महसूस किए गए हैं। यहां रविवार को दो बार भूकंप के झटके महसूस किए गए थे। वहीं सोमवार को एकबार फिर यहां धरती भूकंप के झटकों से हिल गई।


आज का दिन सामान्य रहेगा:मीन

राशिफल


वृषभ-राशि के लोगों का दिन सामान्य रहेगा। कार्यों में रुकावट आ सकती हैं। कार्यस्थल पर किसी के भरोसे न रहें, खुद अपना काम करें। जरूरी कामों में कोई बाधा आ सकती है।


मिथुन-राशि के लोगों का दिन सामान्य रहेगा। आज यात्रा का योग बन सकता है। रिश्तेदारों से संपत्ति को लेकर विरोध हो सकता है. सेहत ठीक रहेगी।


कर्क-राशि के लोगों का दिन सामान्य रहेगा। आज कुछ लोग आपके काम की तारीफ करेंगे। मन में उत्साह भरपूर रहेगा। कार्य की गति बढ़ेगी। खर्चों में कमी करें।


सिंह-राशि के लोगों का दिन शुभ रहेगा। आज आपकी दिनचर्या में बदलाव होगा। भागीदारी के काम में लिए गए निर्णयों से लाभ मिलेगा। नई योजनाओं में निवेश संभव है।


कन्या-राशि के लोगों का दिन सामान्य रहेगा। परिवार में तनाव से चिंता बढ़ेगी। जीवनसाथी की सेहत की चिंता रह सकती है। परोपकार में आपकी रुचि बढ़ेगी। धर्म कर्म में समय बीतेगा।


तुला-राशि के लोगों का दिन सामान्य रहेगा। संतान की आजीविका संबंधी परेशानी दूर होगी। किसी शुभ चितंक से मेल-मुलाकात होगी. लापरवाही से काम न करें।


वृश्चिक-राशि के लोगों का दिन सामान्य रहेगा। मेहनत से कारोबार में लाभ मिलेगा। पारिवारिक कष्ट और समस्याओं का अंत होगा। इनकम से ज्यादा खर्च न करें।


धनु-राशि के लोगों का दिन लाभदायक रहेगा। करीबियों की प्रगति मन को खुश करेगी। विदेश जाने का योग बन सकता है।


मकर-राशि के लोगों का दिन सामान्य रहेगा। पारिवारिक जिम्मेदारी बढ़ेगी। संतान का व्यवहार समाज में सम्मान दिलाएगा।


कुंभ-राशि के लोगों का दिन सामान्य रहेगा। आज मेहनत के अनुरूप सफलता मिलेगी। दूसरों के विवादों में न पडे।


मीन-राशि के लोगों का दिन सामान्य रहेगा। मेहनत के अनुरूप सफलता मिलेगी। रुके हुए काम बनेंगे, सफलता मिलेगी। धन लाभ होने की संभावनाएं हैं।


समीक्षा के दृष्टिकोण से राष्ट्रवाद

राष्ट्रवाद लोगों के किसी समूह की उस आस्था का नाम है जिसके तहत वे ख़ुद को साझा इतिहास, परम्परा, भाषा, जातीयता और संस्कृति के आधार पर एकजुट मानते हैं। इन्हीं बन्धनों के कारण वे इस निष्कर्ष पर पहुँचते हैं कि उन्हें आत्म-निर्णय के आधार पर अपने सम्प्रभु राजनीतिक समुदाय अर्थात् 'राष्ट्र' की स्थापना करने का आधार है। हालाँकि दुनिया में ऐसा कोई राष्ट्र नहीं है जो इन कसौटियों पर पूरी तरह से फिट बैठता हो, इसके बावजूद अगर विश्व की एटलस उठा कर देखी जाए तो धरती की एक-एक इंच ज़मीन राष्ट्रों की सीमाओं के बीच बँटी हुई मिलेगी। राष्ट्रवाद के आधार पर बना राष्ट्र उस समय तक कल्पनाओं में ही रहता है जब तक उसे एक राष्ट्र-राज्य का रूप नहीं दे दिया जाता।


राष्ट्रवाद की परिभाषा और अर्थ को लेकर व्यापक चर्चाएँ होती रही हैं। राष्ट्रवाद की सुस्पष्ट और सर्वमान्य परिभाषा करना आसान नहीं है। प्रो. स्नाइडर तो मानते हैं कि राष्ट्रवाद को परिभाषित करना अत्यन्त कठिन कार्य है। लेकिन फिर भी इस विषय में उन्होनें जो परिभाषा दी है वह राष्ट्रवाद को समझने में उपयोगी है। उनके मतानुसार, 'इतिहास के एक विशेष चरण पर राजनीतिक, आर्थिक, सामाजिक व बौद्धिक कारणों का एक उत्पाद - राष्ट्रवाद एक सु-परिभाषित भौगोलिक क्षेत्र में निवास करनेवाले ऐसे व्यक्तियों के समूह की एक मनःस्थिति, अनुभव या भावना है जो समान भाषा बोलते हैं, जिनके पास एक ऐसा साहित्य है जिसमें राष्ट्र की अभिलाषाएँ अभिव्यक्त हो चुकी हैं, जो समान परम्पराओं व समान रीति रिवाजों से सम्बद्ध है, जो अपने वीरपुरूषों की पूजा करते हैं और कुछ स्थितियों में समान धर्म वाले हैं।


यह एक आधुनिक संकल्पना है जिसका विकास पुनर्जागरण के बाद यूरोप में राष्ट्र राज्यों के रूप में हुआ। राष्ट्रवाद का उदय अट्ठारहवीं और उन्नीसवीं सदी के युरोप में हुआ था, लेकिन अपने केवल दो-ढाई सौ साल पुराने ज्ञात इतिहास के बाद भी यह विचार बेहद शक्तिशाली और टिकाऊ साबित हुआ है। राष्ट्रवाद के प्रतिपादक जॉन गॉटफ्रेड हर्डर थे, जिन्होंने 18वीं सदी में पहली बार इस शब्द का प्रयोग करके जर्मन राष्ट्रवाद की नींव डाली। उस समय यह सिद्धान्त दिया गया कि राष्ट्र केवल समान भाषा, नस्ल, धर्म या क्षेत्र से बनता है। किन्तु, जब भी इस आधार पर समरूपता स्थापित करने की कोशिश की गई तो तनाव एवं उग्रता को बल मिला। जब राष्ट्रवाद की सांस्कृतिक अवधारणा को ज़ोर-ज़बरदस्ती से लागू करवाया जाता है तो यह 'अतिराष्ट्रवाद' या 'अन्धराष्ट्रवाद' कहलाता है। इसका अर्थ हुआ कि राष्ट्रवाद जब चरम मूल्य बन जाता है तो सांस्कृतिक विविधता के नष्ट होने का संकट उठ खड़ा होता है। समीक्षा के दृष्टिकोण से राष्ट्रवाद


सड़क दुर्घटना के प्रमुख कारण

क्षमता से अधिक सामान का होना -: भारत में हो रही सड़क दुर्घटनाओं का एक यह भी मुख्य कारण हैं की वाहन के अंदर उसकी क्षमता से दो गुना तीन गुना चार-चार गुना अधिक सामान लाद दिया जाता हैं जिसके कारण उन मालवाहक वाहनों के टायर फट जाते हैं और दुर्घटनाये हो जाती हैं जिससे सामान और ब्यक्ति यानी की जन और धन दोनों का ही नुकशान होता हैं, अब सवाल यह उठता हैं की जब हर किसी को पता हैं तो लोग ऐसा क्यू करते हैं, क्यू मोटर मालिक या फिर ड्राइवर अपनी जान और माल दोनों का नुकशान उठाने के लिए तैयार हो जाते हैं, इसके मुख्य कारण निम्न हैं १) पुलिस- हमारे देश की पुलिस यहाँ पर उत्तरदायी इसलिए हैं क्यू की यह ज्यादातर मामलों रक्षक (हीरो) नहीं बल्कि भक्षक(गुंडों) की तरह काम करती हैं,आप अपनी गाडी को लेकर जिस सड़क जिस शहर से गुजरेंगे हर मोड़, हर टोल नाके या फिर कही भी जहाँ भी पुलिस आपको मिल जायेगी आपको कुछ न कुछ देना ही पड़ेगा नहीं तो बिना मतलब के भी पुलिस आपको कुछ न कुछ देर के लिए परेशान करेगी, इस से बचने के लिए लोग पुलिस को पैसा देते हैं और ओवर लोडिंग में गाडी चलाते हैं उस पैसे की बराबरी करने के लिए, यहाँ भी जिम्मेदार प्रशासन ही हैं ड्राइवर की तनख्वाह का कम होना – पहले ही दिन से जब से मैंने इस ड्राइवरों और मोटर की दुनिया को समझने की कोशिस की हैं तब से मैंने केवल एक बात देखी हैं की मोटर मालिकों को एक बात लगती हैं की ड्राइवर के पास एक्स्ट्रा इनकम होती हैं इसलिए इन्हे तनख्वाह कम दी जाए, मालिक यह सोचकर तनख्वाह कम देते हैं और ड्राइवर इसकी भरपाई के लिए फिर एक्स्ट्रा माल गाड़ी में लोड करवाते हैं जिसे बेचकर वोह अपना पैसा बराबर करते हैं, जिसकी वजह से भी दुर्घटनाओं का जन्म होता हैं। लचीली कानून ब्यवस्था -: हमारे देश का संविधान भले ही लिखित तौर पर दुनिया का सबसे बड़ा और आदर्श संविधान हैं लेकिन वास्तव में यह बहुत ही लचीला या फिर यूँ कहें तो जर्जर कानून हैं, हमारे यहाँ हर किसी को पता हैं की अगर हमारे पास लाइसेंस हैं और गाडी का बीमा हैं तो किसी को भी ठोक दो भले ही वोह भारत का राष्ट्रपति ही क्यू न हो कोई फर्क नहीं पड़ेगा 7 दिन के अंदर आपको जमानत मिल जाएगी और फिर लड़ते रहो मुकदमा आजीवन और जो बाकी का नुकशान हैं वोह बीमा कंपनी भरेगी ही, तो कही भी ड्राइवर या फिर मोटर मालिक को कोई फर्क ही नहीं पड़ता दुर्घटनाओं से वोह आराम से रहते हैं और अपने प्रतिदिन की ही तरह जीवन चलता हैं उनका फर्क केवल किसी को पड़ता हैं तो उसमें उस पार्टी को जिसे क्षति पहुचती हैं, इसके अलावा इस पूरे मामले में हमारी दूसरी पार्टी भी जिम्मेदार कही न कही होती हैं क्यू की दुर्घटना होने के बाद यह दंड के तौर पर काफी मामलों में पैसा लेकर मामले को रफा-दफा कर देते हैं और बाद में कहते हैं की जिसको जाना था वोह तो चला गया अब और क्या कर सकते हैं कम से कम पैसा मिल रहा हैं यही ठीक हैं और अंततः जिसने गलती की हैं वोह बरी, आज़ाद हो जाता हैं और जिन्दा मौत बन कर सड़क पर फिर से घूमने लगता हैं।


खराब सड़कें – हमारे देश में हो रही सड़क दुर्घटनाओं का एक यह भी अहम कारण हैं की हमारे यहाँ की सड़कें हद से ज्यादा ख़राब हैं, सड़क ख़राब होने से मेरा मतलब केवल सड़क पर गड्ढे होने से नहीं हैं सड़क का डिजाइन भी सड़क ख़राब होने में अहम भूमिका निभाता हैं और सड़क ख़राब होने का मुख्य कारण हैं ठेकेदारी प्रथा, हमारे देश में ज्यादातर सड़कें या फिर यूँ कहे तो हर सड़क सरकार नहीं बल्कि रसूक दार लोग या फिर इस विभाग से जुडी हुई प्राइवेट कंपनिया बनाती हैं, वोह अपना डिजाइन तैयार करके भारत सरकार से अप्रूवल ले लेते हैं या फिर उन्हें डिजाइन मिल जाता हैं और सड़क बनाने का ठेका मिल जाता हैं और फिर उसके बाद वोह अपना काम शुरु कर देते हैं, उनको कोई फर्क नहीं पड़ता की वोह सड़क दस दिन चलेगी या फिर पंद्रह दिन कोई मतलब नहीं होता उनका उनका काम केवल तब तक का होता हैं जब तक की उनको पैसा नहीं मिल जाता, सबसे घटिया सामान प्रयोग किया जाता हैं और सड़क का पैसा पास करवाने के लिए विभाग के मंत्री से लेकर चपरासी तक को ठेकेदार लोग पैसा खिलाते हैं, उसके बाद हम उस सड़क पर चलते हैं तो सड़क तो खराब होगी ही, क्यू की हमारे देश में सड़क लोगों के आवागमन और ब्यापार के लिए नहीं बल्कि पैसा कमाने के लिए बनाई जाती हैं।


यमाचार्य नचिकेता वार्ता (धर्मवाद)

गतांक से...


परंतु उन्हीं को ब्रह्मा जगत में अद्न्याधान करता हूं  3 समिधा लेकर के, तीन ही क्यों मानी जाती है? क्योंकि त्रहवाद को मुझे जागरूक बनाना है। मेरे हृदय में जो तीनों गुण है ।रजोगुण, तमोगुण, सतोगुण यह 3 समिधा को लेकर के मैं अगर ध्यान करता हूं । इसलिए कर रहा हूं कि ब्रह्म जगत भी मेरा यह लोक-परलोक यह धीरु वर्धन तिरुपति में मेरा यह संसार पवित्र बन जाए। मैं राष्ट्र को तीन विभाग में विभक्त करना चाहता हूं। ब्राह्मण क्षत्रिय वैश्य शूद्र एक सुदूर को नहीं ले रहा हूं तीनों विभागों में मैं अपने राष्ट्र का मैं अपनी प्रजा को एक सूत्र में लाना चाहता हूं। इस प्रकार का विचार जब मुनिवर देखो राजा ने महाराज जानवी को दिया तो ब्राह्मण वेताओं को ,वेद जिज्ञासु को प्रतीत हो गया कि राजा तो ब्रह्म वेता है और ब्राह्मण है। मुनि व उनके समीप विद्वान एकत्र हो गए और यह कहा कि महाराज हम आपसे यह जानना चाहते हैं कि यजमान तीन आपने प्रथम कैसे कहा था कि मैं ज्ञान, कर्म और उपासना के द्वारा यज्ञ कर रहा हूं। ज्ञान, कर्म और उपासना में क्या-क्या अंतर्द्वंद माना गया है? राजा कहते हैं कि ज्ञान कहते हैं इस संसार के प्रत्येक पदार्थ का ज्ञान हो जाना और प्रत्येक पदार्थ को जान लेना। उसका मुझे एक समिधा बनानी है। संमिधा का अभिप्राय है यह जो अग्‍न्‍यधान हो करके अग्नि में भस्म हो जाती है। वह जो मेरा विचार है मेरा जो संवाद है वह व्यापक बन कर के ज्ञान में परिणित हो जाए। ज्ञान में आधारित हो जाए। ज्ञान और विज्ञान होगा तो मैं कर्मकांड की पगडंडी को जान सकता हूं। कर्मकांड में मेरी निष्ठा हो कर्मकांड में निहित हो जाऊं। मेरी उज्जवल समीधा है ज्ञान, कर्म और उपासना उसके पश्चात परमात्मा को अपने को संभवत समर्पित कर सकता हूं। परमात्मा को समर्पित करना बहुत अनिवार्य है। जिस प्रकार माता अपने बालक को गर्भ स्थल में धारण करती हुई बालक में स्वयं को रत कर देती है। इसी प्रकार देखो मैं अपने को रत करना चाहता हूं। वह 3 संमिधा का अभिप्राय यह है कि मेरी अंतिम जो संमिधा है। मेरे शरीर और विचारों की संमिधा बनकर के वह अग्‍न्‍यधान जब परमात्मा ब्रह्म को प्राप्त होती चली जाए। भ्रम में निश्चित हो जाऊं ऐसा विचार वह दे रहा था। परंतु आगे ब्राह्मणों ने कहा कि प्रभु, तीन प्रकार की संविदा कौन सी है, जिनसे राष्ट्र बनता है, राष्ट्र को भव्य बनाना बनाया जाता है। उस समय राजा ने कहा कि तीन प्रकार की संमिधा वह कहलाती है जो राष्ट्र को ऊंचा बनाती है। सबसे प्रथम जिसमें चकाचक होती है जिसमें चरणीन्‍त होता हैं । उसका अभिप्राय है कि मेरे राष्ट्र में बुद्धिमान विशेष हो और बुद्धिमान के द्वारा यह राष्ट्र समाज ऊंचा बनता है। जब बुद्धिमान जिस काल में भी होते हैं वह जिस ग्रह में बुद्धिमान पुरुष होते हैं। उस राष्ट्र का पवित्र होना निश्चित है। परंतु इसी प्रकार मेरी वाइफ प्रारंभ की जो संमिधा है उससे मैं अपने राष्ट्र में ब्राह्मणों को ओजस्वी बनाता हूं। मुनिवर, देखो राजा जानवी कहते हैं मेरे यहां एक समय ब्रह्म वेता स्वर्ण केतु ऋषि महाराज आए और स्वर्ण केतु ऋषि महाराज ने ने कहा महाराज मेरे जो आचार्य है मेरे जो पित्र है आचार्य  मै उनके कुल में अध्ययन कर रहा हूं। परंतु उनके कुल में बुद्धिमान तो बहुत है परंतु वहां भगवान देखो द्रव्य की हीनता हो गई है। मैं तब चाहता हूं तो मुनि, देखो महाराज जानवी कहते हैं ब्रह्म बेताओं से मैंने दर्द को प्रदान किया और यह कहा जाओं ब्रह्मचारी ले जाओ क्योंकि विद्यालय पवित्र होने चाहिए। विद्यालय में बुद्धिमता होनी चाहिए। इससे मेरा राष्ट्र पवित्र बन जाए। महाराज जानवी ने कहा कि मेरी सबसे प्रथम संविदा ब्राह्मण मेरे राष्ट्र में हो द्वितीय मेरे यहां क्षत्रिय हो जिन क्षत्रियों से मेरा राष्ट्रीय बलिष्ठ होता है पवित्र बनता है। और उनमें धर्म पिरोया हुआ रहता है। इसी प्रकार जो संमिधा है वह  होनी चाहिए। वैश्य अपने धर्म को, कृषक कृषि करने वाला हो कृषक से जुड़ जाता है और भी नाना प्रकार का व्यापार बना होता है। जिससे राष्ट्र की आभा बनती है पवित्र बनती है। आज वह मेरे यहां ऊंचे होने चाहिए सुचरित्र होने चाहिए उनकी किसी प्रकार की हिंसा ने हो। तो मेरा राष्ट्र पुत्र होगा परंतु देखो उस समय उन्होंने कहा प्रभु आप जिन यज्ञ से अग्नि दान करते हो वह संमिधा कौन सी है। उन्होंने कहा वह समीधा मेरे यहां जिससे मैं प्रातः कालीन यज्ञ करता हूं और मेरी पत्नी जो यज्ञ करते हैं। सबसे प्रथम हम ब्रह्म चिंतन करते हैं ब्रह्म यज्ञ करते हैं और ब्रह्म यज्ञ के के पश्चात हम देव पूजा करते हैं। शिव पूजा के पश्चात हम अतिथि की सेवा करते हैं यह तीन यंज्ञ हमारे राष्ट्र में तीन प्रकार की है ये संमिधा कहलाती है। सबसे प्रथम ब्रह्मा का चिंतन होता है। ब्रहम के चिंतन का अभिप्राय यह है कि ब्रह्मा की आभा में रमण करते रहते हैं। यह ब्रह्म क्या है हमारे यहां प्रथम नियम माना है। पवित्र व की पति पत्नी अपने-अपने स्थान पर विद्यमान होकर के प्रातः काल अपने आसन को साफ करके ब्रह्म का चिंतन करते हैं और चिंतन करते हैं। हे ब्राह्मणों मेरे राष्ट्रीय में कोई ऐसा ग्रह नहीं है जिस ग्रह में ब्रह्म का चिंतन में हो पति पत्नी ब्रह्मा का चिंतन न करते हो। एक आसन पर विद्यमान हो करके धर्म क्या है धर्म किसे कहते हैं यह ब्रह्म क्या है इस ब्रहम में इस संसार को पिरोया हुआ है। जिसमें हम अपने उस मानवीय भाव को पिरोने वाले हैं तो वह ब्रह्म का चिंतन प्रत्येक राजा के प्रत्येक समाज में गृह में होता रहता है। जिससे कि हमें सात्विकता आ जाए ।मानवता आ जाए और मानवता आकर के शिष्टाचार आ जाए सदाचार आ जाए। क्योंकि ब्रह्मा के चिंतन से नाना लाभ होते हैं। ब्रह्मा का चिंतन करने वाले पति पत्नियों के गृह में संतान बुद्धिमान होती है।


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण


september 09, 2019 RNI.No.UPHIN/2014/57254


1.अंक-38 (साल-01)
2.रविवार,10सितबंर 2019
3.शक-1941,भादप्रद शुक्‍लपक्ष एकादशी 


,विक्रमी संवत 2076
4. सूर्योदय प्रातः 5:57,सूर्यास्त 6:43
5.न्‍यूनतम तापमान -27 डी.सै.,अधिकतम-36+ डी.सै., हवा की गति धीमी रहेगी, उमस बनी रहेगी।
6. समाचार पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है! सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा।
7. स्वामी, प्रकाशक, मुद्रक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित।


8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102


9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.201102


https://universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
cont.935030275


 


दुनिया में सबसे अधिक परेशान देश है 'अमेरिका'

वाशिंगटन डीसी। कोरोना महामारी की शुरुआत के साथ ही दुनिया भर में सबसे अधिक परेशान देश अमेरिका है। वैश्विक मामलों का आंकड़े की लिस्ट में पहले ...