गुरुवार, 8 अगस्त 2019

चैन-सुकून से जी सकेंगे कश्मीरी:मोदी

अनुच्‍छेद 370 ने अलगाववाद, आतंकवाद, परिवारवाद  के सिवा कुछ नहीं दिया: पीएम मोदी


नई दिल्ली । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश को संबोधित किया। पीएम ने कहा कि मैं जम्मू-कश्मीर और, लद्दाख के अपने भाइयों और बहनों से आह्वान करता हूं। आइए, हम सब मिलकर दुनिया को दिखा दें कि इस क्षेत्र के लोगों का सामर्थ्य कितना ज्यादा है, हौसला,जज्बा कितना ज्यादा है।


पीएम मोदी ने कहा कि अनुच्छेद 370 से मुक्ति एक सच्चाई है, लेकिन सच्चाई ये भी है कि इस समय ऐहतियात के तौर पर उठाए गए कदमों की वजह से जो परेशानी हो रही है, उसका मुकाबला भी वही लोग कर रहे हैं। कुछ मुट्ठी भर लोग जो वहां हालात बिगाड़ना चाहते हैं, उन्हें जवाब भी वहां के स्थानीय लोग दे रहे हैं। जम्मू-कश्मीर के साथियों को भरोसा देता हूं कि धीरे-धीरे हालात सामान्य हो जाएंगे और उनकी परेशानी भी कम होती चली जाएगी। पीएम बोले कि अनुच्‍छेद 370 और 35ए ने जम्मू कश्मीर को अलगाववाद, आतंकवाद, परिवारवाद और व्यवस्थाओं में बड़े पैमाने में फैले भ्रष्टाचार के अलावा कुछ नहीं दिया। जल्द ही जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में केंद्रीय और राज्य के रिक्त पदों को भरने की प्रक्रिया शुरू की जाएगी। इससे स्थानीय नौजवानों को रोजगार के अवसर उपलब्ध होंगे।पीएम मोदी ने कहा कि जम्मू-कश्मीर के केसर का रंग हो या कहवा का स्वाद, सेब का मीठापन हो या खुबानी का रसीलापन, कश्मीरी शॉल हो या फिर कलाकृतियां, लद्दाख के ऑर्गैनिक प्रॉडक्ट्स हों या हर्बल मेडिसिन, इसका प्रसार दुनिया भर में किए जाने का जरूरत है।


क्रिकेट ट्रांसजेंडर नीति की घोषणा:ऑस्ट्रेलिया

क्रिकेट ऑस्‍ट्रेलिया का ऐतिहासिक फैसला, ट्रांसजेंडर्स को दिया बड़ा तोहफा


सीडनी। क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया (सीए) ने गुरुवार को अंतरराष्ट्रीय स्तर और सामुदायिक क्रिकेट में ट्रांसजेंडर और लिंग विविध लोगों को शामिल करने के लिए एक ट्रांसजेंडर नीति की घोषणा की है। एक मीडिया विज्ञप्ति में, सीए ने घोषणा की कि उसने लिंग पहचान के साथ क्रिकेट में भाग लेने वाले खिलाड़ियों का समर्थन करने के लिए सामुदायिक क्रिकेट के लिए एक एलीट क्रिकेट नीति और दिशा निर्देश विकसित किए हैं। इस नीति के तहत अब ट्रांसजेंडर भी क्रिकेट खेल सकेंगे।


क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया की नीति लिंग पहचान के आधार पर अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद के साथ जुड़ी हुई है। ये नीति ट्रांसजेंडर और अलग-अलग लिंग वाले क्रिकेटरों को मार्गदर्शन प्रदान करती है कि वे खेल के उच्चतम स्तर पर किस तरह से प्रतिस्पर्धा कर सकते हैं।नीति में कहा गया है कि ताकत, सहनशक्ति या काया के प्रासंगिक पहलुओं पर विचार करने के लिए नीति के तहत कोई भी खिलाड़ी जो महिला क्रिकेट में भाग ले रहा है, उसे यह स्थापित करने में सक्षम होना चाहिए कि सीरम में टेस्टोस्टेरोन की उनकी मात्रा लगातार 10 नैनोमीटर प्रति लीटर से कम हो और ये कम से कम 12 महीने के लिए होना चाहिए।अतिरिक्त उपाय के रूप में, निष्पक्ष और सार्थक प्रतियोगिता सुनिश्चित करने के लिए एक विशेषज्ञ पैनल के लिए एक रेफरल प्रक्रिया स्थापित की गई है। क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया के सीईओ केविन रॉबर्ट्स ने इस बारे में अधिक जानकारी देते हुए बताया, 'ये समझ नहीं आता है कि आज भी लोगों के साथ उनकी पहचान के कारण भेदभाव किया जाता है, उन्हें परेशान किया जाता है या बाहर रखा जाता है और यह सही नहीं है। आज हम हर स्तर पर खेल में एक अलग लिंग पहचान वाले लोगों को शामिल करने जा रहे हैं। ताकि हमारे सभी लोगों को ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट और संस्कृति के बारे में पता चल सके।


भारत के मुसलमानो की चिंता न करे:पाक

पाकिस्तान और इमरान खान भारत के मुसलमानों की चिंता न करें।
हिन्दुओं की कॉलोनियों में मुसलमान स्वयं को सबसे ज्यादा सुरक्षित समझता है। 
सूफियों की चौखट पर हिन्दू भी सिर झुकाता है।

संविधान के अनुच्छेद 370 में बदलाव करने और जम्मू कश्मीर राज्य को केन्द्र शासित प्रदेश बनाने के फैसले के बाद पड़ौसी देश पाकिस्तान और प्रधानमंत्री इमरान खान बौखलाए हुए हैं। भारत पर उनके प्रतिबंध लगाने के साथ ही भारत के मुसलमानों की जान को खतरा बताया जा रहा है। इमरान खान ने पाकिस्तान की संसद में कहा कि नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार मुसलमानों पर जुल्म कर रही है। इसमें कोई दो राय नहीं कि अब जम्मू कश्मीर में पाकिस्तान परस्त नेताओं की खैर नहीं। जो नेता कल तक कश्मीर में पाकिस्तान के झंडे लहराने को उचित मानते थे, उन पर अंकुश लगेगा। लेकिन जम्मू कश्मीर सहित देशभर में रहने वाले किसी भी मुसलमान को कोई परेशानी नहीं है। इमरान खान कुछ भी बकवास कर लें, लेकिन सच्चाई यह है कि हिन्दुओं की कॉलोनियों में रहने वाले दो-चार मुस्लिम परिवार स्वयं को सबसे ज्यादा सुरक्षित समझते हैं। यह स्थिति भारत के किसी एक राज्य की नहीं बल्कि पूरे देश की है। अनेक मुस्लिम परिवार तो मुस्लिम बस्तियों को छोड़ कर हिन्दुओं की कॉलोनियों में मकान खरीद रहे हैं। जब हिन्दुओं की कॉलोनियों में मुसलमान स्वयं को सुरक्षित समझ रहा है तो जुल्म की बात कहां से आती है? भारत में रहने वाले मुलसमान को भी पता है कि पाकिस्तान और इमरान खान झूुठ बोल रहे हैं, इसलिए अब भारत के मुसलमानों को आगे आना चाहिए। यदि अब भी मुसलमान चुप रहा तो फिर कट्टरपंथी सोच वाले लोग हावी हो जाएंगे। जहां तक हिन्दू की प्रवृत्ति का सवाल है तो हिन्दू तो सूफी संतों की दरगाहों पर भी सिर झुकाता है। अजमेर में सूफी संत ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती की दरगाह है। दरगाह के आसपास अधिकांश दुकानें हिन्दुओं की है। अनेक दुकानदार दुकान खोलने से पहले दरगाह की सीढिय़ों पर चाबियों को रखता है ताकि कारोबार अच्छा हो। दरगाह के खादिम मानते हैं कि मुसलमान से ज्यादा हिन्दू परिवार जियारत के लिए आ रहे हैं। मुस्लिम समुदाय में ऐसे लोग भी मिल जाएंगे जो सूफी संतों की मजार पर सिर नहीं झुकाते, लेकिन यहां आने वाले सभी हिन्दू पूरी शिद्दत के साथ मजार पर सिर झुकाते हैं। जितने सम्मान और सुकून के  साथ मुसलमान भारत में रह रहा है उनका सम्मान तो किसी मुस्लिम राष्ट्र में भी नहीं है। 1947 में विभाजन के बाद पाकिस्तान में हिन्दुओं के साथ भेदभाव किया, लेकिन भारत में हिन्दुओं से ज्यादा अधिकार मुसलमानों को मिले हैं। यही वजह है कि भारत में पाकिस्तान से भी ज्यादा मुसलमान रह रहे हैं। जम्मू कश्मीर में शांति रहे इसके लिए भारत को हर कदम उठाने का अधिकार है। इमरान को अपने पाकिस्तन की चिंता करनी चाहिए। 
एस.पी.मित्तल


कांग्रेस के गुलाम ने कहा,भाड़े के थे लोग

शोपियां में पैसे देकर कश्मीरियों को डोभाल के साथ खड़ा किया-कांग्रेस के गुलाम ने कहा। तो क्या कश्मीरी पैसे लेकर पत्थर फेंकते हैं? गुलाम को वामपंथियों को समर्थन मिला। 

अखबारों में एक फोटो प्रकाशित हुआ है। इस फोटो में देश के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल को केन्द्र शासित प्रदेश जम्मू कश्मीर के शोपियां में कुछ कश्मीरियों के साथ बिरयानी खाते दिखाया गया है। इस फोटो के पीछे यह दिखाने का प्रयास किया है कि अब आतंकवाद ग्रस्त कश्मीर में हालात सामान्य हो रहे हैं, लेकिन जम्मू कश्मीर के पूर्व सीएम और मौजूदा समय में राज्यसभा में प्रतिपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद ने इस फोटो पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि पैसे देकर किसी को भी साथ खड़ा किया जा सकता है। यानि अजीत डोभाल शोपियां में जिन कश्मीरियों के साथ खड़े हैं उन कश्मीरियों को पैसे दिए गए। कांग्रेस के गुलाम का यह बयान कश्मीरियों का तो अपमान है ही साथ ही सवाल उठता है कि क्या पैसे लेकर ही कश्मीरी हमारे सुरक्षा बलों पर पत्थर फेंकते थे? जब देश के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाकार के साथ खड़े होने और बिरयानी खाने के लिए कश्मीरी पैसे ले सकते हैं तो पत्थर फेंकने के लिए क्यों नहीं? असल में कश्मीर से अनुच्छेद 370 के हटने और केन्द्र शासित प्रदेश बनने से सबसे ज्यादा नुकसान गुलाम नबी आजाद जैसे नेताओं को हुआ है। अब तक ऐसे नेता कश्मीरियों की भावनाओं को भड़का कर अपनी नेतागिरी चमकाते रहे। चूंकि अब कश्मीर घाटी के हालात भी सामान्य हो रहे हैं, इसलिए गुलाम जैसे नेताओं को मिर्ची लगी हुई है। ऐसे नेता कश्मीर के हालात बिगडऩे के इंतजार में बैठे हैं। उधर अब्दुल्ला, महबूबा मुफ्ती जैसे नेताओं को तो पहले ही गिरफ्तार किया जा चुका है। अब यदि कांग्रेस के गुलाम भी कश्मीर में आग लगाने के लिए जाएंगे तो उन्हें भी गिरफ्तार किया जाएगा। गिरफ्तार नेताओं को यह समझ लेना चाहिए कि अब जम्मू कश्मीर में भारत के कानून लागू हो गए हैं, इसलिए पहले वाली छूट नहीं मिलेगी। 5 अगस्त की रात से तो जम्मू कश्मीर केन्द्र शासित प्रदेश बन गया है और इस समय सारी शक्तियां राज्यपाल सत्यपाल मलिक के पास हैं। 
गुलाम की सुरक्षा वापस ली जाए :
8 अगस्त को गुलाम नबी आजाद दिल्ली से श्रीनगर के हवाई अड्डे पर पहुंचे, लेकिन प्रशासन ने उन्हें धारा 144 लागू होने की वजह से श्रीनगर में जाने नहीं दिया। गुलाम को वापस दिल्ली भेजा जा रहा है। असल में गुलाम जैसे नेताओं को जो सुरक्षा मिली हुई है उसे तत्काल प्रभाव से वापस लिया जाना चाहिए। सुरक्षा उन नेताओं को दी जाती है जो देश हित में सोचते हैं और देश को ऐसे नेताओं की जरूरत होती है। जब गुलाम नबी का मकसद ही जम्मू कश्मीर में अशांति फैलाना है तो फिर उन्हें किस बात की सुरक्षा और सरकारी सुविधाएं दी जा रही है?
वामपंथियों का समर्थन :
गुलाम नबी ने कश्मीर के हालातों को लेकर जो बयान दिया है उसका समर्थन सीपीआई के महासचिव डी राजा ने भी किया है। डी राजा का कहना है कि सरकार को जम्मू कश्मीर के हालात तत्काल सुधारने चाहिए। उन्होंने अनुच्छेद 370 में बदलाव का भी विरोध किया। सीपीआई जैसे राजनीतिक दल मानते हैं कि कश्मीर समस्या का समाधान पाकिस्तान के साथ वार्ता कर किया जाना चाहिए। 
एस.पी.मित्तल


उज्जवला योजना की समीक्षा बैठक:गढ़वा

संवाददाता-विवेक चौबे



गढ़वा । जिले के कांडी प्रखंड मुख्यालय के सभागार में गुरुवार को बीडीओ सह एमओ-गुलाम समदानी की अध्यक्षता में प्रखंड की उज्जवला योजना की समीक्षा बैठक का आयोजन किया गया। बैठक में मौजूद सभी डीलर व पंचायत स्तर पर चयनित उज्ज्वला दीदी व गैस एजेंसी के लोगों को संबोधित करते हुए बीडीओ सह एमओ गुलाम समदानी ने कहा कि सभी लोग आपस में समन्वय बनाकर जल्द से जल्द सभी योग्य परिवारों को गैस का वितरण करना सुनिश्चित करें। उन्होंने बैठक में उपस्थित डीलर व उज्जवला दीदी से बारी-बारी से खड़ा कर गैस दिलाने में हो रही परेशानी को जाना व गैस एजेंसी के लोगों से कमी को दूर करने की बात कही। बैठक में उपस्थित बीस सूत्री अध्यक्ष-राम लला दुबे ने कहा कि उज्ज्वला योजना केन्द्र व राज्य की महत्वाकांक्षी योजना है। इस योजना में लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जायेगी। इस योजना के लाभ से वंचित परिवारों को चिन्हित कर, उन्हें इसका लाभ दिलाने में सभी डीलर व उज्ज्वला दीदी अपनी भूमिका ईमानदारी से निभाएं।बैठक में नवल इंडेन गैस एजेंसी के प्रोपराइटर राजकुमार यादव , भारत गैस एजेंसी के अंजनी शर्मा , एचपी उज्वला गैस एजेंसी मझिआंव के मो. शादाब आलम , डीलर-ब्रजमोहन मिश्रा , प्रमोद सिंह , रामलखन चंद्रवंशी , अनिता देवी , शारदा देवी , भरत मेहता, सहित अन्य लोग उपस्थित थे।


असुविधाओं की भरमार: प्रशासन मौन

संवाददाता - योगेन्द्र द्विवेदी


अलवर। गोविंदगढ राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय  की स्थापना सन 1998 में हुई थी और उसके बाद से ही यहां पर सुविधाओं का अभाव रहा है।


गोविंदगढ़ राजकीय महाविद्यालय में सितंबर 2017 में कैंटीन के लिए पीडब्ल्यूडी विभाग को राशि जारी की गई। लेकिन आज तक वहां पर कोई भी निर्माण कार्य नहीं किया गया है। साथ ही कॉलेज की चारदीवारी का कार्य भी अधूरा छोड़ा हुआ है। जिसके चलते कॉलेज परिसर में असामाजिक तत्वों का जमावड़ा बना रहता है। राज्य सरकार के निर्देश के अनुसार जहां कॉलेज परिसर में सीसीटीवी कैमरा अनिवार्य है। लेकिन कॉलेज प्रशासन के द्वारा चार-पांच बार पत्र भेजे जाने के बाद भी कैमरे नहीं लगाए गए हैं। कॉलेज प्रशासन के द्वारा कैमरों की राशि भी दी जा चुकी है। कॉलेज प्रशासन की तरफ से विभिन्न कार्यों के लिए पीडब्ल्यूडी विभाग को 2 करोड़ रुपए की राशि दी गई थी। जिस के कार्यों की जानकारी पीडब्ल्यूडी विभाग से कई बार मांगी जा चुकी है। लेकिन विभाग के द्वारा कोई भी जानकारी प्रदान नहीं की जा रही है,ना ही कार्य को पूरा किया जा रहा है। कॉलेज में लगे आरओ सिस्टम भी फेल हो चुके हैं।


प्रोफेसर दीपक चंदवानी से मिली जानकारी के अनुसार कॉलेज परिसर में लगे हुए पानी के स्रोत में टीडीएस 700 के करीब है जिससे आरओ सिस्टम फेल हो गए हैं।बच्चों को वही पानी पीना पड़ रहा है। इसकी जानकारी भी आगे दी जा चुकी है। लेकिन कार्यवाही नहीं हुई है। बहरहाल! यह कहना गलत नहीं होगा की बच्चे असुविधाओ में शिक्षा ग्रहण कर रहे हैं।सत्यवती पांडे के अनुसार कॉलेज परिसर में सीसीटीवी कैमरा नहीं होने से बालिकाएं अपने आप को असुरक्षित महसूस करती है। क्योंकि कॉलेज परिसर के चारों तरफ बाउंड्री का कार्य अधूरा है।जिससे असामाजिक तत्वों का कॉलेज परिसर में आना-जाना रहता है।अजय राज के अनुसार कॉलेज परिसर में लगे आरओ सिस्टम खराब हो जाने के कारण बच्चों को दूषित पानी पीना पड़ रहा है। जिससे कि उनके स्वास्थ्य पर विपरीत प्रभाव पड़ रहा है। उपाध्यक्ष रविकांत शर्मा के अनुसार उनके द्वारा कई बार पत्र के माध्यम से कॉलेज प्रशासन के सबंध में उच्च अधिकारियों को कॉलेज मे स्‍थित असुविधाओं की जानकारी दी गई है। असुविधाओ के चलते छात्र-छात्राओं में रोष व्याप्त है।


संवेदनशील:पत्रकारों पर किया हमला

रेंजर द्वारा पिटाई किए जाने का वीडीओ वायरल


मीरजापुर।  वाराणसी से हनुमाना राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 7, सड़क की फोरलेन निर्माण कंपनी के प्रबंधक संजीव कुमार सिंह ने ड्रमंडगंज रेंजर भास्कर पांडेय के विरुद्ध अभद्रता एवं मार पीट करने का आरोप लगाते हुए थाने में तहरीर दी है।इस संबध में भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण भारत सरकार के उच्चाधिकारियों से उक्त रेन्जर की शिकायत मंगलवार को दर्ज कराई गयी है। आरोप यह है कि सड़क चौड़ीकरण हेतु अवश्यक वन भूमि, वन एवं पर्यावरण मंत्रालय भारत सरकार द्वारा प्राधिकरण को हंस्तान्त्रित कर दिया गया है किन्तु ड्रमंडगंज रेंजर भास्कर पाण्डेय द्वारा आपने निजी स्वार्थ सिद्धी के कारण कार्यदाई संस्था पर अनावाशक दबाव बनाने हेतु, वन विभाग द्वारा आवंटित भूमि पर पत्थर तोड़ने के लिए जिला अधिकारी, मीरजापुर के अस्थायी विस्फोट अनुज्ञा के उपरांत भी कार्य कर रहे ड्राईवर / आपरेटरों के साथ दुर्व्यवहार कर अनावाशक रूप से ड्रमंडगंज रेंजर कार्यालय में घंटो बन्धक बना लिया जाता है ।ताकि कार्यदाई संस्था के उच्च अधिकारिओं पर स्वार्थ सिद्धी हेतु दबाव बनाया जा सके, इसी क्रम में  04 अगस्त को जब कार्यदाई संस्था के प्रबंधक संजीव कुमार सिंह उनसे बात करने गए तो उनके साथ भी दुर्व्यवहार व मारपीट की गयी। जिसकी तहरीर हालिया थाना में दर्ज करायी गयी है |आरोप है कि जिस समय संजीव कुमार सिंह अपने साथ हुए मार-पिट की तहरीर थाने में दर्ज करा रहे थे। उसी समय मारपीट की घटना को दबाने हेतु उक्त रेंजर पुन: ड्रमंडगंज घाटी में सड़क निर्माण हेतु ड्रिल कर रहे संस्था के कर्मचारी दीपक दुबे को भी बन्धक बना कर। उस पर वन अधिनियमों के तहत फर्जी धाराएँ लगा रहे थे। पीड़ित का आरोप है कि इस प्रकार शासन द्वारा प्रदत अधिकारों का दुरूपयोग कर रेंजर भास्कर पाण्डेय द्वारा खुलेआम गुंडागर्दी व आतंक मचाया जा रहा है। राष्ट्रीय विकास के काम में अपने निजी स्वार्थो के कारण लगातार बाधा पहुंचाई जा रही है। उपरोक्त की शिकायत भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण, भारत सरकार द्वारा भी सम्बंधित विभाग के उचाधिकारियों से की गयी है।


जिला तरबतर,किसानों के चेहरे मुरझाए

लगातार हुई बारिश से कोरबा जिला हुआ तरबतर,खिले किसानों के मुरझाए चेहरे


कोरबा । दो दिन से मानसून की जोरदार मेहरबानी के कारण लगातार हुए बारिश ने जिले भर को तरबतर कर दिया है।और इस बारिश की वजह से जहां एक ओर किसानों के चेहरों में खुशी झलकने लगी है।वहीं गर्मी से भी निजात मिली है।लेकिन दूसरी ओर जिले के कई इलाकों में पानी घुस जाने की वजह से खासी परेशानी भी होने लगी है।कल से प्रारंभ हुई अनवरत झमाझम बारिश से शहरी सहित ग्रामीण इलाकों के नदी नालों में जमकर उफान आया है।और दर्जनों ग्रामो का संपर्क कट गया है।कई इलाकों में तो पुल-पुलिया भी क्षतिग्रस्त हो गए है।और पानी की वजह से जनजीवन खासा प्रभावित हुआ है।मौसम विभाग के अनुसार अगले 24 घंटो तक बारिश होने की संभावना जताई गई है।


ज्ञात हो कि जिले में ढंग की बारिश ना होने के कारण किसानी कार्य काफी पिछड़ गया था।और सूखे के हालात की वजह से अकाल की स्थिति निर्मित होने लगी थी।और खेतों में फसलों के साथ किसानों के भी चेहरे मुरझा गए थे।जिला प्रशासन ने भी अकाल से निपटने अपनी कमर कस ली थी।तथा प्रभावित किसानों को राहत देने के कार्य प्रारंभ किये जा चुके थे।लेकिन अब हुई बारिश से किसानो की बांछे खिल गई है।हालकि किसानी कार्य पिछड़ तो जरूर गया है।जिससे किसानों को प्रभाव जरूर पड़ा है।लेकिन भारी बारिश होने के फलस्वरूप अब खेतों को भरपूर पानी मिलने से अकाल के स्थिति से नकारा जा रहा है।देखना है आगे के हालात क्या बयां कर रहे है।


एटीएम तोड़कर,27 लाख निकाले:हडकंप

रायगढ़ । बीती मध्यरात्रि सर्किट हाउस केंद्रीय विद्यालय के पास स्टेट बैंक के एटीएम को तोड़कर अज्ञात चोरों द्वारा 27 लाख रुपए चोरी का मामला सामने आया इस मामले का खबर लगते ही पुलिस प्रशासन तुरंत हरकत में आया और पुलिस अधीक्षक राजेश अग्रवाल अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अभिषेक वर्मा नगर पुलिस अधीक्षक अविनाश ठाकुर सभी थाना प्रभारियों के साथ मौके पर पहुंचे और मौका मुआयना किया। डॉग स्क्वायड की टीम और फॉरेंसिक एक्सपर्ट की टीम दी मौके पर पहुंचकर जांच में जुट गई निश्चित तौर पर पुलिस ने इस मामले को गंभीरता से लिया और पुलिस का कहना यह है कि जल्द से जल्द चोरी का खुलासा एवं चोरों को पकड़ लिया जाएगा कहीं ना कहीं यह इलाका सुनसान होने के कारण इस प्रकार की घटना को अंजाम दिया गया और बीती रातभर तेज बारिश होने से भी आसपास के लोगों को इसका अंदाजा नहीं लग पाया।


आपको बताना चाहेंगे कि लगातार पुलिस प्रशासन द्वारा सभी बैंक प्रबंधकों के साथ बैठक कर सभी एटीएम में सुरक्षा व्यवस्था दुरुस्त करने के लिए कई बार कहा गया पर बैंक प्रबंधकों की लापरवाही के कारण ही इस प्रकार की घटनाएं सामने आ रही है रायगढ़ के कई सारे एटीएम ऐसे हैं जहां ना तो सीसीटीवी काम कर रहे हैं और ना ही वहां कोई सुरक्षा गार्ड है अगर बैंक प्रबंधन लापरवाही नहीं बरतता तो निश्चित तौर पर इस प्रकार की घटनाएं सामने नहीं आती।जिला पुलिस प्रशासन ने इस मामले को गंभीरता से लेते हुए जांच शुरू कर दी है आसपास के लोगों से पूछताछ किया जा रहा है और हर पहलू पर बारीकी से जांच कर चोरों को पकड़ने का दावा पुलिस प्रशासन कर रही है।


प्रणव,नानाजी,भूपेन को भारत रत्‍न से नवाजा

 नई दिल्ली। राष्ट्रपति भवन में भारत रत्न समारोह की सीधी सूचनाआप तक पहुंचाई जा रही हैं । देश के पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी को मिला भारत रत्न सम्मान। राष्ट्रपति भवन छोड़ने के बाद पहली बार राष्ट्रपति भवन पहुंचे। प्रख्यात गायक भूपेन हजारिका को मरणोपरांत भारत रत्न से नवाजा गया। उनके स्थान पर उनके बेटे ने ग्रहण किया भारत रत्न सम्मान। राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी, सामाजिक कार्यकर्ता नानाजी देशमुख (मरणोपरांत) और असम के प्रसिद्ध गायक भूपेन हजारिका (मरणोपरांत) को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद आज देश के सर्वोच्च नागरिक सम्मान, भारत रत्न से सम्मानित किया गया।


नौका डूबने से गई नो की जान,कई बचाए

पुणे। महाराष्ट्र के पुणे में एक बड़ा हादसा हो गया है। यहां सांगली जिले के पालुस ब्लॉक में भामनाल के पास एक नाव पलट गई है। बताया जा रहा है कि नाव में 27-30 गांव वाले सवार थे। अभी तक नौ शवों को बरामद कर लिया गया है। वहीं 16 लोगों को सुरक्षित बाहर निकाला जा चुका है। बाकी के बचे हुए लोग लापता है। जिन्हें ढूंढने की कोशिश की जा रही है। यह जानकारी पुणे मंडल के संभागीय आयुक्त दीपक म्हैसेकर ने दी। महाराष्ट्र पुलिस के विशेष पुलिस महानिरीक्षक (कानून एवं व्यवस्था), मिलिंद भारम्बे ने कहा, 'यह स्थानीय लोगों की एक बचाव नौका थी जो बाढ़ प्रभावित क्षेत्र में फंसे लोगों को सुरक्षित स्थान पर ले जाने की कोशिश कर रहे थे। अभी तक नौ शवों की बरामदगी हो चुकी है। 10-12 लोगों के मरने की आशंका है। खोज और बचाव कार्य जारी है।


पार्टी से निकालने की धमकी:पीडीपी

महबूबा मुफ्ती ने पीडीपी सांसदों को राज्यसभा से इस्तीफा नहीं देने पर दी पार्टी से निकालने की धमकी


नई दिल्ली । राज्यसभा के बाद लोकसभा में भी जम्मू कश्मीर को विशेषाधिकार देने वाले आर्टिकल 370 को हटाने का प्रस्ताव पास हो गया। जम्मू-कश्मीर की पूर्व सीएम और पीडीपी प्रमुख महबूबा आर्टिकल 370 हटाने का जमकर विरोध कर रही हैं। फिलहाल, उनको और नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता उमर अब्दुल्ला को सोमवार रात से ही नजरबंद किया गया है। इस बीच खबर आ रही है कि महबूबा मुफ्ती ने पार्टी के राज्यसभा सांसदों से इस्तीफा देने को कहा है।


खबर के मुताबिक, महबूबा मुफ्ती के एक सहयोगी ने बताया कि जब वह घर से गेस्ट हाउस शिफ्ट हो रही थीं, तब उन्होंने संदेश दिया कि राज्यसभा के सांसद या तो इस्तीफा दें या फिर निष्कासन का सामना करें। बता दें कि पीडीपी के दोनों सांसदों एमएम फैयाज और नाजिर अहमद ने राज्यसभा में जम्मू-कश्मीर पुनर्गठन बिल का विरोध किया था। इसके बाद पीडीपी सांसदों ने विरोध करते हुए राज्यसभा में ही संविधान की प्रति फाड़ दी कि जिसके बाद सभापति वेंकैया नायडू ने दोनों को बाहर भेज दिया था।एमएम फैयाज ने अपना कुर्ता भी फाड़ लिया था। दोनों सासंदों ने बांह पर काला बैंड बांध रखा था और वे इस बिल का विरोध कर रहे थे। फैयाज ने कहा था कि वे इस्तीफा देना चाहते हैं लेकिन इसके पहले वे पार्टी नेतृत्व से संपर्क करना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि किसी से बात नहीं हो पा रही है क्योंकि जम्मू-कश्मीर की सभी फोन लाइनें बंद कर दी गई हैं, इसपर चर्चा करने के बाद इस्तीफे पर फैसला लेंगे।


वीर-चक्र से सम्मानित होंगे:अभिनंदन

15 अगस्‍त को वीर चक्र से सम्‍मानित होंगे विंग कमांडर अभिनंदन वर्तमान!


नई दिल्‍ली । केंद्र सरकार की तरफ से विंग कमांडर अभिनंदन वर्तमान को सर्वोच्‍च सैन्‍य पुरस्‍कार वीर चक्र से सम्‍मानित किया जाएगा। अभिनंदन ने 26 फरवरी के अगले दिन 27 फरवरी को जम्‍मू कश्मीर में हुई डॉग फाइट में अपने मिग-21 से पा‍किस्‍तान एयरफोर्स के एफ-16 को ढेर कर दिया था। अभिनंदन के अलावा बालाकोट एयरस्‍ट्राइक में शामिल मिराज-2000 के पायलट्स को भी सम्‍मानित किया जाएगा। बुधवार को सूत्रों के हवाले से हिन्‍दुस्‍तान टाइम्‍स ने यह जानकारी दी है।


विंग कमांडर अभिनंदन वर्तमान और मिराज-2000 के पांच पायलट्स जिन्‍होंने बालाकोट में जैश-ए-मोहम्‍मद के अड्डों पर बम गिराए थे, उन्‍हें बहादुरी का प्रदर्शन करने के लिए वायुसेना मेडल से सम्‍मानित किया जाएगा। अभिनंदन वर्तमान ने 27 फरवरी को उस समय इतिहास रचा था जब उन्‍होंने मात्र 90 सेकेंड्स में एफ-16 को ढेर कर दिया था।अभिनंदन दुनिया के पहले पायलट हैं जिन्‍होंने मिग से एफ 16 को ढेर किया। हालांकि उनका जेट भी क्रैश हो गया था और इसके बाद वह पाकिस्‍तान के हिस्‍से वाले कश्‍मीर में जा गिरे थे। विशेषज्ञों ने अभिनंदन को ऐसा कारनामा करने वाला दुनिया का पहला पायलट बताया था।मिग-21 जहां 60 के दशक का फाइटर जेट है तो वहीं एफ-16 एक मॉर्डन जेट है। ऐसे में अभिनंदन ने जो किया वह दुनिया में लोगों ने पहली बार देखा था। 27 फरवरी को अभिनंदन पीओके में जा गिरे और एक मार्च को 60 घंटे तक कैद में रखने के बाद पाकिस्‍तान ने उन्‍हें वापस वतन भेजा था।


बाघा-बॉर्डर पर रोकी समझौता एक्सप्रेस

बौखलाए पाकिस्तान ने वाघा बॉर्डर पर रोकी समझौता एक्सप्रेस, हजारों यात्री फंसे


नई दिल्ली । जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 खत्म करने से बौखलाए पाकिस्तान ने अब एक और शर्मनाक हरकत ही है। भारतीय रेलवे के सूत्रों के हवाले से पीटीआई ने कहा है कि पाकिस्तान ने भारत आ रही समझौता एक एक्सप्रेस को वाघा बॉर्डर पर रोक दिया है। पाकिस्तान की इस हरकत के कारण हजारों यात्री बीच रास्ते में फंस गए हैं। आपको बता दें कि इससे पहले पाकिस्तान ने भारत के साथ व्यापार संबंध खत्म करने की घोषणा भी कर दी है।एक अन्य रिपोर्ट के अनुसार, पाकिस्तान ने अपने ट्रेन ड्राइवर और गार्ड को समझौता एक्सप्रेस के साथ भेजने से मना कर दिया है। अटारी अंतरराष्ट्रीय रेलवे स्टेशन के सुपरिंटेंडेंट अरविंद कुमार गुप्ता का कहना है पाकिस्तान से समझौता एक्सप्रेस को भारत आना था, लेकिन इस दौरान पाकिस्तान से संदेश आया कि भारतीय रेल अपने ड्राइवर और क्रू मेंबर को भेजकर समझौता एक्सप्रेस को ले जाएं।


विद्युत-विभाग के कर्मचारियों ने किया धरना

गाजियाबाद। राज्य विद्युत परिषद प्राविधिक कर्मचारी संघ के कर्मचारियों ने अपनी मांगों को लेकर इला प्लाजा के सामने विद्युत विभाग के दफ्तर पर दिया धरना।


गाजियाबाद। राज्य विद्युत निवेदक कर्मचारी संघ के कर्मचारियों ने संगठन के अनुसार बाध्य होकर कहा कि अगर उनकी मांगें उत्तर प्रदेश सरकार और अधिकारियों ने नहीं मानी।  तो बाद में सोनू के सभी कर्मचारी इकट्ठा होकर आंदोलन करेंगे। इसके लिए पहले ही आधाकारिक तौर पर नोटिस देना पढ़ रहा है। वही अगर पत्र की निर्गत तिथि से के अंतर्गत समस्याओं का समाधान नहीं किया गया तो संगठन के समस्त सदस्य आंदोलन करने को बाध्य होंगे। जिसके कारण उत्पादन औद्योगिक अशांत की जिम्मेदारी उच्च प्रबंधन की ही होगी। विद्युत कर्मचारियों की मांग है। कि जनवरी 2000 के बाद नियुक्त समस्त यांत्रिक कर्मचारी को पुरानी पेंशन को लागू किया जाए। तथा यांत्रिक तकनीशियन से 40% छूट कोटे के अंतर्गत अवर अभियंता के पद पर चयन द्वारा 10 वर्ष की निरंतर सेवा की बाध्यता को समाप्त कर 3 वर्ष किया जाए। वहीं तकनीशियन की नियुक्ति पर 4200 ग्रेड पे दिया जाए।  20 जुलाई 1998 के समझौते के अनुसार यांत्रिक संवर्ग तकनीशियन को वर्गीकरण करते हुए प्रथम समय वृद्ध वेतन आंवर अभियंता का अनुमान वेतनमान द्वितीय समृद्ध वेतनमान सहायक अभियंता  के बराबर वेतनमान दिया जा ना चाहिए।  हालांकि बही विद्युत कर्मियों ने अपने कई प्रकारों की मांगों को रखा। और यह चेतावनी देते हुए कहा है कि अगर हमारी मांगे पूरी नहीं की गई। तो पूरे उत्तर प्रदेश विद्युत विभाग संघ के लोग पूरे जिला स्तर पर व तहसील स्तर पर पूरे प्रदेश में लोगों पर उतर कर धरना प्रदर्शन करेंगे। हालांकि विद्युत विभाग संघ के कर्मियो ने आम आदमी पार्टी की भावना बिष्ट को बुलाकर उनका सहयोग लिया सभी कर्मचारियों ने उनके साथ बैठकर इस विषय को लेकर चर्चा भी की । और उन्होंने कहा भी कि आपके साथ जब भी जरूरत पड़ेगी। तो हम आपकी मदद जरूर करेंगे। जो हमारे लायक हो सकेगी ।और इस बात को हो सकता है कि आप सभी लोगों के साथ-साथ इस बात को हम भी सरकार तक पहुंचाने का कार्य करेंगे। भाई राज विद्युत संघ के धरने पर पहुंची।आम आदमी पार्टी की महिला प्रकोष्ठ की जिला अध्यक्ष भावना बिष्ट को देख कर धरने पर बैठे सभी कर्मचारी काफी उम्मीद की आस जगी की हो सकता। कि हमें सरकार सेवा अधिकारियों से उनके आने से सहयोग मिलेगा।


सरकार,सरकारी सेवा रामभरोसे:अखिलेश

लखनऊ । समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा है कि उत्तर प्रदेश में प्रशासन की गाड़ी पटरी से उतर गई है। मुख्यमंत्री चाहे जितने बढ़-बढ़कर दावे करें, अधिकारियों पर उनका अंकुश नहीं दिखाई देता है। कानून व्यवस्था बदतर है। स्वास्थ्य सेवाएं चरमरा गई हैं। लोगों की जिंदगी से खिलवाड़ हो रहा है। इस सबकी किसी को फिक्र नहीं। पूरी सरकार और सरकारी सेवाएं रामभरोसे चल रही है।अखिलेश यादव ने कहा है कि एटा में महिला थाना के स्टाफ क्वार्टर में रहने वाली सहायक अभियोजन अधिकारी (एपीओ) नूतन यादव की गोली मार कर हत्या कर दी गई। वह जलेसर कोर्ट में अभी एक साल पहले ही एपीओ बनी थी। एक अन्य घटना लखनऊ के सरोजनीनगर तहसील में समाधान दिवस पर हुई जब न्याय की गुहार लगाती महिला अंतत: डीएम के सामने आत्मदाह की कोशिश करने लगी। हुसैनगंज लखनऊ के बरफखाना मुहल्ले में भी एक महिला की चाकू से गोदकर हत्या कर दी गई। महिलाओं और बच्चियों से दुष्कर्म की घटनाएं थम नहीं रही है। अपराधी अपराध करके पुलिस की नाक के नीचे से फरार हो जा रहे हैं। पुलिस तंत्र पंगु है क्योंकि समाजवादी सरकार में यूपी डायल 100 नं0 की जो व्यवस्था की गई थी उसे भी बर्बाद कर दिया गया है।स्वास्थ्य सेवाओं का हाल तो और भी बुरा है। अस्पतालों में पर्याप्त संख्या में डाक्टरों, पैरामेडिकल स्टाफ की कमी तो पहले से है अब विभागीय लापरवाही से अस्पतालों में दवाओं का भी अभाव हो गया है। रक्तचाप, शूगर और बुखार तक की दवाएं जब नहीं उपलब्ध है तो यह उम्मीद करना कि कैंसर, हार्ट, लीवर किडनी के गम्भीर रोगों की दवाएं आसानी से उपलब्ध होगी दिवास्वप्न ही है। समाजवादी सरकार में तो इन सभी बीमारियों के इलाज मुफ्त थे। पैथालॉजी लैब में जांचे नि:शुल्क थी। रोगियों को दवाओं का अभाव भी नहीं झेलना पड़ता था। भाजपा सरकार को इसका जवाब देना पड़ेगा।भाजपा की राज्य सरकार कितनी संवेदनहीन है इसी से जाहिर है कि लखनऊ में पीजीआई के समान भत्तों की मांग पर लोहिया संस्थान के डाक्टरों को हड़ताल पर जाना पड़ा। इलाज के लिए आए मरीज तड़पते रहे। केजीएमयू में, लारी कार्डियोंलॉजी में दिल के मरीज तड़प कर मरते रहे। वहां एक विवाद के बाद तालाबंदी कर दी गई थी। आपरेशन टल गए। मरीजों की जांचे बंद हो गई।इससे पूर्व भी अस्पतालों में हड़ताल के कारण मरीज मुसीबत में फंस चुके है। कितनों ने अस्पतालों के गेट पर दम तोड़ दिया। कई की सांसे तो एक अस्पताल से दूसरे अस्पताल की दौड़ के बीच में ही थम गई। आश्चर्य है कि मुख्यमंत्री जी को यह सब नहीं दिखाई देता है। वे अपने ही राग में मगन हैं। जनता के दु:ख दर्द से उन्हें कोई लेना देना नहीं है। सत्ता के मद में भाजपा के मंत्रियों की भी संवेदनाएं मर गई है। स्वास्थ्यमंत्री मरीजों के दु:खदर्द के प्रति बेपरवाह हैं।


भारत-रत्‍न से सम्मानित होंगे पूर्व राष्ट्रपति

भारत रत्न पुरस्कार से सम्मानित होंगे पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी


नई दिल्ली । पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी को आज भारत के सर्वोच्च नागरिक, भारत रत्न पुरस्कार से नवाजा जाएगा। ये पुरस्कार उन्हें राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद देंगे। बता दें कि प्रणब मुखर्जी का राजनीतिक करियर 5 दशक का है जिसमें उन्हें कांग्रेस में और इंदिरा गांधी, राजीव गांधी, पीवी नरसिंहा राव और मनमोहन सिंह की सरकारों में अहम पद मिले।


83 साल के मुखर्जी 2012 से 2017 तक भारत के 13वें राष्ट्रपति रहे लेकिन इससे पहले ने 2009 से 2012 तक केंद्रीय मंत्री भी रहे। वित्त मंत्री रहते हुए प्रणब मुखर्जी ने रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के गवर्नर के रूप में मनमोहन सिंह के नियुक्ति पत्र दस्तखत किए। पश्चिम बंगाल के बीरभूम गांव में 11 दिसंबर 1935 को एक बंगाली परिवार में जन्मे मुखर्जी ने राजनीति विज्ञान और इतिहास से अपना एमए पूरा किया और कलकत्ता विश्वविद्यालय से एलएलबी की डिग्री ली।प्रणब दा के रूप में पहचाने जाने वाले मुखर्जी ने इस पुरस्कार के लिए चुने जाने पर इसके लिए धन्यवाद प्रकट किया। उन्होंने कहा कि जितना मैं इस देश और देश के लोगों को कभी दे नहीं सका उससे कहीं ज्यादा मुझे इससे मिला है।मैं इसके लिए लोगों को धन्यवाद करना चाहता हूं और पूरे आदर के साथ इस सम्मान को स्वीकार करता हूं।


पाक ने लगाई,दुनिया से मदद की गुहार

नई दिल्ली । जम्मू-कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 को समाप्त करने के भारत सरकार के फैसले ब्रिटेन ने बुधवार को कहा कि उसने पर अपनी चिंता भारत के सामने रखी है। ब्रिटेन के विदेश मंत्री डोमिनिक राब ने कहा कि उन्होंने अपने भारतीय समकक्ष एस जयशंकर से बात की है। राज्य को दो केन्द्रशासित प्रदेशों में बांटने के प्रस्ताव के संबंध में इस सप्ताह की शुरुआत में की गई घोषणा पर भारत के रुख के बारे में जानकारी ली है।ब्रिटेन के विदेश मंत्री डोमिनिक राब ने कहा, ''मेरी नियुक्ति के बाद से मैंने भारतीय विदेश मंत्री से दो बार बात की है और मैंने उनसे बुधवार को भी बात की है।'इससे पहले ब्रिटेन ने मामले पर नज़र रखने की कही थी बातब्रिटेन के विदेश मंत्री डोमिनिक राब ने कहा, ''हमने स्थिति पर अपनी कुछ चिंताएं व्यक्त की हैं और शांति की बात की है लेकिन भारत सरकार के नजरिये से भी स्थिति को समझा।'इससे पहले के बयान में विदेश और राष्ट्रमंडल कार्यालय (एफसीओ) के एक प्रवक्ता ने कहा था ब्रिटेन स्थिति पर नजदीक से नजर रख रहा है और स्थिति को शांत रखने की मांग का समर्थन करता है।दुनिया का कोई भी देश खुलकर नहीं आया पाक के साथ ब्रिटेन की संसद इस मुद्दे पर बंटी हुई है। कश्मीर पर 'ऑल पार्टी पार्लियामेंट्री ग्रुप' के कुछ सदस्यों ने चिंता व्यक्त की तो कुछ ने भारत सरकार के फैसले का स्वागत किया है।बताते चलें कि पाकिस्तान की लाख कोशिशों के बाद भी दुनिया का कोई भी देश कश्मीर मुद्दे पर पाकिस्तान का साथ देने के लिए उसके पक्ष में खुलकर सामने नहीं आया है,और ऐसे में ब्रिटेन की प्रतिक्रिया भी बस पाकिस्तान को सांत्वना देने वाली ही लगती है।


कई देशों और संस्थाओं से मदद की गुहार कर चुका है पाकिस्तान
सबसे पहले पाकिस्तान ने इस मामले में मलेशिया और तुर्की से मदद मांगी थी। इसके अलावा उसने ऑर्गेनाइजेशन ऑफ इस्लामिक कॉपोरेशन में भी इस मुद्दे को उठाया था। इसके अलावा पाकिस्तान यूएई के पास इस मामले में मदद मांगने के लिए गया था। लेकिन सभी जगहों से अभी तक पाकिस्तान को केवल टरकाया गया है।जहां यूएई सीधे इस मुद्दे पर भारत की ओर झुका दिखा, वहीं मलेशिया ने इस मसले पर नज़र बनाए रखने और तुर्की ने जल्द ही पाकिस्तान को मदद का आश्वासन देकर टरका दिया है। इसके बाद पाकिस्तान ने खीझकर भारतीय उच्चायुक्त को वापस भेज दिया और पाकिस्तानी उच्चायुक्त को भी भारत से वापस बुला लिया है और भारत से होने वाले व्यापार पर भी रोक लगा दी है। वह भी इस मामले में विशेषज्ञों की राय मानें तो पाकिस्तान को ही इस व्यापार प्रतिबंध से नुकसान होने का अनुमान है।


इमरान के 'मंत्री' को कहा कुत्ता:पाक

नई दिल्ली । अनुच्छेद 370 और अनुच्छेद 35ए हटाएके बाद सीमा पार पाकिस्तान बौखला गया है।एक से बढकर एक कारनामा सामने आ रहा है। पाकिस्तान के पार्लियामेंट में बुधवार को ज्वाइंट सेशन के दौरान पाकिस्तान मुस्लिम लीग (PML-N) के सांसद मुशाहिदुल्लाह खान ने इमरान खान के एक मंत्री को 'कुत्ता' कह दिया।


पार्लियामेंट में क्यों हुआ हंगामा?
जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 और अनुच्छेद 35ए हटाए जाने के बाद वहां पार्लियामेंट में ज्वाइंट सेशन बुलाया गया था. इस दौरान वहां मौजूद सांसद बारी-बारी से कश्मीर पर अपनी बात रख रहे थे। इसी दौरान दो सदस्य आपस में भिड़ गए. दरअसल, सांसद मुशाहिदुल्लाह खान  प्रधानमंत्री इमरान खान की आलोचना कर रहे थे। तभी मंत्री फवाद चौधरी ने बीच में उन्हें रोकने की कोशिश की।लेकिन वो नहीं माने।इस बीच नाराज़ मुशाहिदुल्लाह खान ने फवाद चौधरी को दब्बू कह दिया. दोनों की बीच तीखी बहस होने लगी।दोनों को समझाने की कोशिश की गई। चेयरमैन सादिक़ ने इन दोनों को अपनी सीट पर बैठने के लिए भी कहा लेकिन वो नहीं माने।


लद्दाख में मनाया गया जश्‍न:370

नई दिल्ली । जम्मू-कश्मीर से अलग होने के बाद लद्दाख में जश्न मनाया जा रहा है। लेह में स्थानीय नेताओं, बौद्ध गुरू के साथ हजारों की संख्या में लोग जमा हुए हैं और तिरंगे के नीचे आजादी का जश्न मना रहे हैं। इसके साथ नरेंद्र मोदी सरकार को धन्यवाद देने के लिए सांस्कृतिक कार्यक्रम और संगीत समारोह का भी आयोजन किया जा रहा है। मुनिल इस्लाम के अध्यक्ष डॉ.अब्दुल कयूम ने कहा कि कश्मीर ने हमेशा लद्दाख के साथ सौतेला व्यवहार किया है।हमने कश्मीर से आजादी के लिए लंबी लड़ाई लड़ी है। उम्मीद नहीं थी कि मोदी जी ये तोहफा देंगे। मोदी को धन्यवाद देने के लिए आज हम जश्न मना रहे हैं। भारत को आजादी 1947 में, लेकिन लद्दाख को आजादी 5 अगस्त, 2019 को मिली।


जम्मू-कश्मीर से अलग होने के बाद लद्दाख में जश्न मनाया जा रहा है। लेह में स्थानीय नेताओं, बौद्ध गुरू के साथ हजारों की संख्या में लोग जमा हुए हैं और तिरंगे के नीचे आजादी का जश्न मना रहे हैं। इसके साथ नरेंद्र मोदी सरकार को धन्यवाद देने के लिए सांस्कृतिक कार्यक्रम और संगीत समारोह का भी आयोजन किया जा रहा है। मुनिल इस्लाम के अध्यक्ष डॉ.अब्दुल कयूम ने कहा कि कश्मीर ने हमेशा लद्दाख के साथ सौतेला व्यवहार किया है। हमने कश्मीर से आजादी के लिए लंबी लड़ाई लड़ी है। उम्मीद नहीं थी कि मोदी जी ये तोहफा देंगे। मोदी को धन्यवाद देने के लिए आज हम जश्न मना रहे हैं। भारत को आजादी 1947 में, लेकिन लद्दाख को आजादी 5 अगस्त, 2019 को मिली।


करवाई नहीं,तो युवा उतरेंगे सड़कों पर

अगर कार्यवाही न हुई तो युवा नेता सड़कों पर उतरेंगे । दिनेश गुर्जर


गाज़ियाबाद । पिछले दो दिन से सोशल मीडिया पर एक वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है जिसमें समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव की एक तस्वीर लगाकर उस पर कुछ अज्ञात लोग आपत्तिजनक गतिविधि करते नजर आ रहे हैं इसको लेकर आज समाजवादी पार्टी की तरफ से पं0 जीतू शर्मा राष्ट्रीय सचिव छात्र सभा के नेतृत्व में पुलिस कप्तान को ज्ञापन दिया गया, पुलिस कप्तान की अनुपस्थिति में सीओ प्रभात कुमार ने ज्ञापन लेकर उचित कानूनी कार्यवाही का आश्वासन दिया। इस मौके पर पं0 जीतू शर्मा राष्ट्रीय सचिव छात्र सभा ने कहा कि यह शरारत किसी असामाजिक तत्वों द्वारा की गई है जो की बर्दाश्त से बाहर है ऐसी घटनाओं को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा, जो लोग इसके पीछे हैं उन सभी पर कानूनी कार्यवाही हो।इस मौके पर लोहिया वाहिनी के जिलाध्यक्ष दिनेश गुर्जर ने कहा ऐसी घटनाओं से राजनीति का स्तर गिरता है ऐसी घटनाएं शर्मनाक है ऐसे लोगों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्यवाही हो ।यूथ के महानगर अध्यक्ष रविन्द्र यादव ने कहा हम अपने नेता के प्रति इस तरह की घटनाएं बर्दाश्त नहीं करेंगे इसके पीछे जो लोग हैं उन्हें प्रशासन जांच कर जेल भेजने का काम करे ।इस मौके पर चेतन यादव प्रमुख, रविन्द्र यादव, संदीप यादव, जीतू शर्मा, साजिद मलिक, पुनीत खरे, हाजी चाँद क़ौसर, रोहिल युवा, कपिल यादव, राहुल पंडित, मोहित यादव, मोहित कौशिक, नजर राजपूत, विकास सिंह, मुकेश कुमार राहुल गुर्जर हरेंद्र पहलवान जीतु गुर्जर कुलदीप यादव लोग आदि शामिल रहे।


पुलिस:चलाया जबरदस्त चेकिंग-अभियान

एसएसपी अभिषेक यादव के निर्देश पर थाना प्रभारी तितावी डी के त्यागी ने तितावी क्षेत्र में जबरदस्त वाहन चेकिंग अभियान चलाया


तस्लीम बेनकाब


मुजफ्फरनगर। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अभिषेक यादव के कुशल एवं प्रभावी निर्देशन में व पुलिस अधीक्षक देहात आलोक शर्मा व पुलिस क्षेत्राधिकारी सिद्धार्थ सिंह तोमर के नेतृत्व में चलाए जा रहे हैं वाहन चेकिंग अभियान के अंतर्गत आज तितावी क्षेत्र में थाना प्रभारी तितावी डी के त्यागी ने क्षेत्र में पुलिस दलबल को साथ लेकर जबरदस्त वाहन चेंकिंग की ओर बगैर हेलमेट व सीटबेल्ट ना लगाने वालों को दी हिदायत।जब से एसएसपी अभिषेक यादव ने मुजफ्फरनगर जिले की कमान संभाली हैं तब से मुजफ्फरनगर के सभी थानाप्रभारीयों ने जबरदस्त वाहन चेंकिंग अभियान भी चलाया हुआ हैं।तो वही थानाप्रभारी तितावी डी के त्यागी ने स्वयं चेंकिंग अभियान की सम्भाले हुए है सड़क पर दुपहिया वाहनों को रोककर व उनकी पुलिस टीम ने जबरदस्त तरीके से सन्दिग्ध लोगो की तलासी भी ली।इस चेंकिंग अभियान का यह परिणाम रहता है कि बदमाश अपनी मांग में रहते हैं और इससे पुलिस का इकबाल बुलंद होता है।शासन स्तर पर पुलिस अधिकारियों की यह चेंकिंग अभियान की प्रक्रिया पुलिस का मनोबल तो बढ़ाई रही है वहीं नागरिकों में भी यह संतोष रहता है कि पुलिस जागरूक चौकन्नी एवं मजबूत प्रहरी की भांति हमारी सेवा में लगी हुई है।


कश्मीरी छात्रों को थार जीप से रौंद डाला

चंडीगढ़ । सेक्टर-21-34 की डिवाइडिंग रोड पर सहेली के साथ कोचिंग जा रही कश्मीरी छात्रा को थार जीप ने रौंद डाला। युवती की मौके पर ही मौत हो गई। हादसा तब हुआ जब वह सहेली के साथ कोचिंग जा रही थी। जीप भी एक युवती ही चला रही थी। पुलिस ने आरोपित युवती को गिरफ्तार कर लिया है। मृतका की पहचान लंबी गली, ऊधमपुर, जम्मू-कश्मीर निवासी 19 वर्षीय अक्षिता अबरोल के रूप में हुई है। वह आठ जुलाई को ही चंडीगढ़ आई थी। अक्षिता सेक्टर-34 स्थित आइबीटी इंस्टीट्यूट से बैंक पीओ की तैयारी कर रही थी।हादसे के बाद थोड़ी दूर जाकर युवती ने जीप रोक दी। इतने में उसके साथ जीप में सवार एक व्यक्ति आकर ड्राइविंग सीट पर बैठ गया, लेकिन लोगों के विरोध पर व्यक्ति ने अपनी जीप से घायल युवती को मुकुट हास्पिटल ले गया और उसे वहां भर्ती करवाया। हालांकि डॉक्टरों ने युवती को मृत घोषित कर शव को जीएमसीएच-32 भेज दिया।सूचना पाकर शाम 6 बजे तक मृतका के परिजन भी जेएंडके से चंडीगढ़ पहुंच गए थे। 19 वर्षीय अक्षिता अबरोल अपनी सहेली के साथ सेक्टर-21 स्थित पीजी में रह रही थी। अक्षिता के परिवारिक मित्र दलजीत पाल भी परिवार के साथ चंडीगढ़ में रहते हैं। उन्होंने बताया कि अक्षिता रोजाना की तरह पैदल अपनी सहेली के साथ कोचिंग जा रही थी। सेक्टर-21-34 डिवाइडिंग रोड स्थित जेब्रा क्रासिंग पर सड़क क्रास करते समय अचानक हरियाणा नंबर की थार जीप चालक युवती ने उसे रौंद दिया।मामले में गिरफ्तार जीप चालक युवती की पहचान सेक्टर-10 निवासी 21 वर्षीय निहार कौर के रूप में हुई है। निहार कौर के पिता मर्चेंट नेवी में पोस्टेड हैं और वह सेक्टर-32 एसडी कॉलेज में बीकॉम फाइनल ईयर की स्टूडेंट है। हालांकि, सेक्टर-34 थाना प्रभारी बलदेव सिंह ने थार जीप से कुचलने की बात से इन्कार किया है।


प्रत्यक्षदर्शी प्रवेश भारद्वाज ने बताया कि हरियाणा नंबर की थार जीप तकरीबन 100 की स्पीड में थी। इस दौरान सड़क क्रास करती युवती को जीप ने कुचल दिया। जीप की अगले और पिछले दोनों पहिया युवती के ऊपर से निकल गई। थोड़ी दूर जाकर जीप रुक गई। वही, दलजीत पाल ने बताया कि हादसे के बाद अक्षिता कुछ देर तक सड़क पर लहूलुहान हालत में पड़ी रही। लोगों के विरोध के बाद जीप सवार दूसरे व्यक्ति ने ड्राइव कर अक्षिता को प्राइवेट हास्पिटल में भर्ती करवाया।दलजीत पाल ने बताया कि हादसे की सूचना मिलते ही वह मौके पर पहुंच गए। इस दौरान जीप चालक युवती की मां भी पहुंच गई थी। उनकी मां ने बताया कि गाड़ी वह चला रही थी। उनके पास कई साल पुराना ड्राइविंग लाइसेंस भी है। आज तक कभी गलती नहींं हुई, लेकिन पता नहींं कैसे हादसा हो गया। दलजीत पाल ने बताया कि प्रत्यक्षदर्शियों द्वारा चालक की पहचान युवती के तौर पर बताने के बाद उन्होंने अपनी बेटी की गलती मान ली।


36 घंटे में कातिल गिरफ्तार:लखनऊ

लखनऊ। रिश्तों को तार-तार कर चाची का क़त्ल करने वाला भतीजा गिरफ्तार कर लिया गया है,हुसैनगंज में मंगलवार को चाची को मौत के घाट उतारने के बाद चचेरे भाभी को भी ताबड़तोड़ वारकर लहुलुहान किया था। एसएसपी कलानिधि नैथानी के निर्देश पर आरोपी हिमांशु की गिरफ्तारी में लगी पुलिस टीम को सफलता मिल गई है। सीओ हज़रतगंज अभय कुमार मिश्र के नेतृत्व में साइबर सेल के सबइंस्पेक्टर राहुल राठौर ने कांस्टेबल शरीफ और अखिलेश के साथ आरोपी को 36 घन्टें में गिरफ्तार कर सलाखों के पीछे भेजा दिया है। जिससे अपराधियों में भय बना हुआ है।


हिमांशु त्रिपाठी


सीओ ने की जनता से अपील:शामली

नितिन चौहान


शामली-कैराना। आगामी त्योहार ईद उलअज़ाह (बकरीद) 15 अगस्त ,श्रावण सोमवार और रक्षाबंधन को लेकर कोतवाली में हुई शांति समिति की बैठक नगर पालिका व बिजली विभाग को दिए दिशा निर्देश। पानी बिजली तथा सफाई के रहेंगे पुख्ता इंतजाम। सीओ कैराना राजेश कुमार तिवारी ने कहा है कि सुरक्षा के मद्देनजर सभी संभ्रांत लोगों से अपील की गई है कि भाईचारा बनाकर त्योहारों का आनंद ले । बुद्धवार को कैराना कोतवाली पर शांति समिति की बैठक का आयोजन किया गया। बैठक की अध्यक्षता सीओ कैराना राजेश कुमार तिवारी ने की। बैठक में नगर तथा ग्रामीण क्षेत्रों से आए गणमान्य लोगों ने भाग लिया तथा अपनी अपनी समस्याओं से अवगत कराया। लोगों की समस्या को लेकर सीओ कैराना ने नागरिकों के विचार साझा किये। तथा त्योहारो को शांति पूरवक मनाने की अपील की। उन्होंने कहा कि कुर्बानी खुले में या सार्वजनिक स्थानों पर न करें और कुर्बानी के जानवरों के बचे अवशेष रोड पर या गली में ना फैंके। वही उन्होंने कहा कि नगर में विभिन्न स्थानों पर गढ्ढे बनाने का काम जल्द शुरू किया जा रहा है। उन गढ्ढडों का लाभ उठाएंगे तो गंदगी नहीं फैले गी। इस अवसर पर सी ओ कैराना राजेश कुमार तिवारी, इंस्पेक्टर राम भवन सिंह, एसआई अजय कसाना, एसआई सुरेन्द्र सिंह तथा नगर के सभासद शगुन मित्तल, सभासद राशिद कुरेशी, डाक्टर सत्यपाल कश्यप, डाक्टर परवेज बांकर आदि गणमान्य लोग मोजूद रहे। वहीं बैठक में बिजली विभाग तथा नगर पालिका परिषद् कैराना से कोई भी अधिकारी व कर्मचारियों के ने आने से चर्चा का विषय बना रहा। सीओ कैराना राजेश कुमार तिवारी ने कहा कि त्योहार को लेकर सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए जायेंगे। जो बैठक में शामिल होने के लिए आये हैं में उनसे कहना चाहता हूं कि वह किसी भी तरह की घटना परेशानी को लेकर तुरंत सम्पर्क करें तथा पुलिस का सहयोग करें।


जल-शक्ति अभियान का प्रचार-प्रसार

गौतमबुध नगर । प्रधानमंत्री जल शक्ति अभियान को जनपद में सफल बनाने के लिए पंचायत राज विभाग की बड़ी कार्रवाई। गांव गांव में एलईडी वैन के माध्यम से कराया जा रहा है व्यापक प्रचार-प्रसार। गिरते हुए भूजल स्तर को बचाने के उद्देश्य से सरकार के द्वारा प्रधानमंत्री जल शक्ति अभियान संचालित किया जा रहा है। इस कार्यक्रम को जनपद में जन आंदोलन का रूप प्रदान करने के उद्देश्य से जिलाधिकारी बीएन सिंह के निर्देशन में जिला पंचायत राज अधिकारी कुंवर सिंह यादव एवं उनके सहयोगी अधिकारियों द्वारा जनपद में ग्रामीण क्षेत्रों में एलईडी वैन के माध्यम से व्यापक रूप से प्रचार-प्रसार किया जा रहा है, ताकि अधिक से अधिक जनसामान्य को इस महत्वपूर्ण कार्यक्रम से जोड़कर जन आंदोलन के रूप में प्रधानमंत्री जल शक्ति अभियान को संचालित किया जा सके। इस क्रम में पंचायती राज विभाग के तत्वाधान में जेवर ब्लाक के अंतर्गत महाबलीपुर ग्राम पंचायत में एलईडी वैन के माध्यम से ग्रामीणों में प्रचार-प्रसार सुनिश्चित किया गया। जहां पर उन्हें पानी के दुरुपयोग को रोकने, बरसात के पानी का संचयन करने तथा खेत का पानी खेत में और गांव का पानी गांव में नारे को सफल बनाने के लिए ग्रामीणों को प्रेरित किया गया ताकि गिरते हुए भूजल स्तर को बढ़ाया जा सके। राकेश चौहान जिला सूचना अधिकारी गौतम बुद्ध नगर।


कब्जे वाले भूमि,जताया जा सकता है हक

नई दिल्ली । सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को एक बेहद अहम फैसला दिया है। उसने व्यवस्था दी है कि कब्जाधारी व्यक्ति (एडवर्स पजेसर) उस जमीन या संपत्ति का अधिकार लेने का दावा कर सकता है जो 12 वर्ष या उससे अधिक समय से बिना किसी व्यवधान के उसके कब्जे में है। शीर्ष अदालत ने यह भी कहा है कि इतना ही नहीं अगर ऐसे व्यक्ति को इस जमीन से बेदखल किया जा रहा है तो वह उसकी ऐसे रक्षा कर सकता है जैसे वह उसका मूल स्वामी हो।


जस्टिस अरुण मिश्रा, एसए नजीर और एमआर शाह की पीठ ने यह व्यवस्था देते हुए पूर्व में इस संबंध में शीर्ष अदालत की तीन सदस्यीय पीठ के फैसले को सही कानून नहीं माना और उसे निरस्त कर दिया। लेकिन उन्होंने इस बारे में विभिन्न उच्च न्यायालय और शीर्ष अदालत की पीठ के अलग-अलग दिए गए फैसलों को देखते हुए इस मुद्दे को अंतिम रूप से निर्णित करने के लिए बड़ी बेंच (संविधान पीठ) को रेफर कर दिया।इससे पूर्व 2014 में उच्चतम न्यायालय की दो सदस्यीय पीठ ने फैसला दिया था कि एडवर्स कब्जाधारी व्यक्ति जमीन का अधिकार नहीं ले सकता है। साथ ही कहा था कि अगर मालिक जमीन मांग रहा है तो उसे यह वापस करनी होगी। इसके साथ ही कोर्ट ने इस फैसले में यह भी कहा था कि सरकार एडवर्स पजेशन के कानून की समीक्षा करे और इसे समाप्त करने पर विचार करे।जस्टिस मिश्रा की पीठ ने हालांकि कहा कि लिमिटेशन एक्ट, 1963 की धारा 65 में यह कहीं नहीं कहा गया है कि एडवर्स कब्जाधारी व्यक्ति अपनी भूमि को बचाने के लिए मुकदमा दायर नहीं कर सकता है। ऐसा व्यक्ति कब्जा बचाने के लिए मुकदमा दायर कर सकता है और एडवर्स कब्जे की भूमि का अधिकार घोषित करने का दावा भी कर सकता है।कोर्ट ने कहा कि गुरुद्वारा साहिब बनाम ग्राम पंचायतश्रीथला(2014), उत्तराखंड बनाम मंदिर श्रीलक्षमी सिद्ध महाराज (2017)और धर्मपाल बनाम पंजाब वक्फ बोर्ड (2018) में दिए गए फैसलों को निरस्त कर दिया। कोर्ट ने कहा कि ये फैसले सही कानून का प्रतिपादन नहीं करते।


खातीगुडा बांध के दो द्वार खोले गए

आशुतोष तिवारी


जगदलपुर। इंद्रावती नदी का जल स्तर बढ़ने की वजह से ओडिशा स्थित खातीगुड़ा बांध के सात में से दो गेट खोले गए हैं। तीन घंटे के भीतर यह पानी छत्तीसगढ़ पहुंच जाएगा, इससे बस्तर के हालात और बिगड़ने के आसार हैं।कोटपाड़ के तहसीलदार दलाई ने बताया कि कैचमेंट एरिया में भारी बारिश की वजह से इंद्रावदी नदी का जलस्तर तेजी से बढ़ा है। इसका असर ओडिशा के नौबरंगपुर जिला स्थित खातीगुड़ा बांध पर भी पड़ा है, जिसके सात गेट में से दो गेट को खोलना पड़ा है।बांध से निकलने वाला पानी करीबन तीन घंटे में छत्तीसगढ़ पहुंचेगा। पहले से ही बारिश की वजह से बस्तर संभाग में अस्त-व्यस्त जनजीवन और प्रभावित होगा। स्थिति को देखते हुए प्रशासन अपने स्तर पर तैयारी में जुटा हुआ है।


रसायनिक जल-जमाव से फसल बर्बाद

गाजियाबाद । मोदीनगर गांव सीकरी खुर्द निवासी कालू सिंह उपजिलाधिकारी डीके सिंह से मिले। किसान ने बताया की मेरे खेत के पास से सरकारी नाला निकल रहा है। नाले में मोदी डिशटलरी फैक्टरी का कैमिकलयुक्त पानी निकलता है। अधिक बारिश के कारण नाला कई जगह से गिर चुका है। जिस कारण कैमिशलयुक्त पानी खेत में आ गया। जिस कारण खेत में खड़ी 35 बीघा ईख की फसल पूरी तरह से बर्बाद हो गई। किसान ने चेतावनी दी है कि यदि कोई कार्रवाई नहीं हुई तो वह धरना देने को मजबूर हो जाएगा। उपजिलाधिकारी डीके सिंह ने जांच के आदेश दिए है। उन्होने कहा कि जांच कराकर दोषी के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। इस बारे में उमेश मोदी गु्रप के लाईजिंग आफिसर आशीष गुप्ता ने आरोपों को निराधार बताया है।


किया वृक्षारोपण, बांटी मिठाईयां:370

कश्मीर से 370 हटाए जाने की खुशी में हुआ वृक्षारोपण, खूब बटी मिठाई


वाल्मीकी समाज के लिए बेहद खुशी का दिन, सभी को मिलेगा आरक्षण का लाभ-बृजलाल।
लखनऊ। केंद्र सरकार द्वारा जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 व 35A हटाए जाने से जहां पूरे देश में खुशी की लहर है, वहीं निगमों, आयोगों व सरकारी कर्मचारियों में भी हर्षोल्लास देखा गया। कर्माचारियों ने एक-दूसरे को मिठाई खिलाकर खुशी का इजहार किया।राज्य अनुसूचित जाति/जनजाति आयोग के अध्यक्ष बृजलाल के गोमतीनगर विस्तार स्थित आवास पर सुरक्षा में तैनात जवानों ने राष्ट्रीय ध्वज को सलामी दी तथा सेक्टर-4 में बृजलाल के नेतृत्व में लोगों ने वृक्षारोपण किया। पूर्व डीजीपी बृजलाल ने इस अवसर पर कहा कि यह यादगार के तौर पर याद रहेगा और हम लोगों को एहसास दिलाता रहेगा कि हमने उस पावन अवसर पर पौधे लगाए जिस दिन अनुच्छेद 35-A  व 370 हटाई गई।


इसके बाद इंदिरा भवन स्थित आयोग के कार्यालय पहुंचकर बृजलाल ने वहां आए आगुंतकों, अधिकारियों व कर्मचारियों के बीच भी मिष्ठान वितरण किया गया। बृजलाल ने कहा कि अब जम्मू-कश्मीर का विकास होगा तथा भारत के सभी कानून वहां लागू होंगे तथा समाज के गरीब वर्ग को नौकरियां मिलेंगी।
उन्होने कहा कि 60 के दशक में पंजाब से कश्मीर गए हजारों वाल्मीकी समाज के लोगों के लिए ये सबसे प्रसन्नता का दिन है क्योंकि वे दशकों बाद भी केवल सफाई कर्मी बने हुए हैं। उनके बच्चों को सफाई के अलावा कोई काम नहीं मिलता चाहें वे कितनी ही उच्च शिक्षा क्यों न ग्रहण कर लें, उन्हे आज तक उनके अधिकारों से वंचित रखा गया।अब वहां देश के सभी कानून लागू होने से समाज के गरीब तबके खासकर अनुसूचित जाति/जनजाति के लोगों को आरक्षण का लाभ मिलेगा।
बृजलाल आगे कहते हैं कि अब बाहर से व्यापारी वहां जाकर निवेश करेंगे जिससे लोगों को रोजगार मिलेगा तथा अब बच्चे आतंकवादियों के बहकावे में आकर पत्थरबाजी नहीं करेंगे और मुख्य धारा में शामिल होकर रोजी रोजगार करेंगे।


पाकिस्तानी झंडा:राजद्रोह का मामला दर्ज

पाकिस्तानी झंडे के साथ फेसबुक पर फोटो लगाने से मचा बवाल फोटो लगाने वाला युवक गिरफ्तार


गाजियाबाद । गाजियाबाद के लोनी थाना क्षेत्र के डीएलएफ अंकुर विहार में हेयर सैलून चलाने वाले एक युवक ने मंगलवार को अपनी फेसबुक आईडी  पर पाकिस्तान के झंडे के साथ अपना फोटो लगा दिया। जिसके बाद उसकी यह फोटो तेजी से सोशल मीडिया पर वायरल हो गई। फोटो वायरल होने के बाद लोगों में आक्रोश फैल गया। इस मामले में लोनी थाना पुलिस ने कार्रवाई करते हुए पाकिस्तान के झंडे के साथ फोटो लगाने वाले युवक मोहसिन को गिरफ्तार कर लिया।
गिरफ्तार युवक मोहसीन मेरठ के जानी थाना क्षेत्र के नेक गांव का रहने वाला है। यह दिल्ली के करावल नगर में अपनी बुआ के घर रहता है और दिल्ली से सटे लोनी के डीएलएफ में माइकल हेयर सैलून नाम से दुकान चलाता है। पूछताछ में युवक ने बताया इसने पाकिस्तान के फ्रेम के साथ फोटो इसलिए डाल दी क्योंकि यह इसे अच्छी लगी थी।युवक के खिलाफ राष्ट्रद्रोह का मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई की जा रही है।


ड्रग्स-हेरोइन के साथ 2 अफगानी गिरफ्तार

रिपोर्टर
नरेन्द्र कुमार


नई दिल्ली । नारकोटिक्स सेल, क्राइम ब्रांच की टीम ने दो अफगानी नागरिको को गिरफ्तार करके दिल्ली में अवैध ड्रग हेरोइन की सप्लाई करने वाले ड्रग तस्करो के गिरोह का पर्दाफाश किया है। आरोपियों से बरामद आधा किलो से अधिक ड्रग हेरोइन की इंटरनेशनल मार्किट में इसकी कीमत लगभग 80 लाख रुपये। ड्रग के तस्करों के खिलाफ पुलिस द्वारा लगातार अभियान चलाते हुए। दिल्ली पुलिस के नारकोटिक्स सेल, क्राइम ब्रांच ने दिल्ली में नशे के कारोबार में शामिल 2 आरोपियों को किया गिरफ्तार।DCP, क्राइम, डॉ.जॉय टिर्की एवं, ACP, आर.के.ओझा नारकॉटिक्स सेल की देख रेख में टीम का गठन किया गया। इंस्पेक्टर राम मनोहर,के नेर्तत्व में पुलिस टीम ने पुश्ता रोड गीता कॉलोनी बस स्टैंड से मस्जिदी फिरोज़ व जबीउल्लाह रहीमी नाम के दो आरोपी अफ़ग़ानी नागरिकों को क्राइम ब्रांच की टीम ने धर दबोचा, इन आरोपियों के पास से आधा किलो से अधिक ड्रग हेरोइन बरामद किया है। जिसकी कीमत इंटरनेशनल मार्किट में लगभग 80-90 लाख रुपये है। ड्रग्स हेरोइन की गुप्त सूचना पर इंस्पेक्टर राम मनोहर की टीम में SI, विशन को मिली थी जिसपर पुलिस टीम के सदस्य SI,राकेश दुहन, हेडकॉन्स्टेबल संजय, हेडकॉन्स्टेबल रमेश के साथ दोनो आरोपियों को ड्रग्स के साथ पकड़ा गया, क्राइम ब्रांच में दोनो अपराधियों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया।तफ्तीश में हेडकॉन्स्टेबल अशोक, कॉन्स्टेबल सुखबीर व अन्य स्टाफ को शामिल किया गया। क्राइम ब्रांच (नारकोटिक्स) के वरिष्ठ पुलिस अधिकारी के अनुसार पूछताछ में यह जानकारी मिली कि दोनो आरोपी अफ़ग़ानिस्तान के नागरिक हैं। जबीउल्लाह पिछले काफी समय से दिल्ली, अल्मोड़ा, हल्द्वानी, चंडीगढ़ में च्यवनप्राश, हींग व आयुर्वेदिक दवाएं बेचने का काम करता है। आरोपी मस्जिदी फिरोज़ पांच साल की आयु में अपने माता पिता के साथ दिल्ली आया था और पिछले कई साल से दिल्ली, लक्ष्मी नगर में किराए के मकान में अपने परिवार सहित रहे रहा था। और च्यवनप्राश, हींग इत्यादि बेचने का ही काम करता है।गलत संगत में पड़ने के कारण वह नशे का आदि। हो चुका था। आरोपी जबीउल्लाह अफ़ग़ानिस्तान से चोरी छिपे हेरोईन को अपने सामान के साथ लेकर आता था और अलग अलग नशे के आदी  व्यक्तियों को बेचता था और 2 साल पहले फिरोज़ के संपर्क में आया था। जबीउल्लाह हेरोईन नशे के लिए फिरोज़ को भी दिया करता था।  22 जुलाई को जबीउल्लाह अफ़ग़ानिस्तान से दिल्ली आया था और हल्द्वानी चला गया। पुनः एक अगस्त को दिल्ली आया और मस्जिदी फिरोज़ की मदद से ड्रग्स मादक पदार्थ बेचने की कोशिश कर रहा था। जब दोनों आरोपी पुश्ता रोड गीता कॉलोनी बस स्टैंड के पास नारकोटिक्स सेल के हत्थे चढ़ गए। पुलिस इन दोनों आरोपियों से जुड़े अन्य लोगों की तलाश कर रही है और नशे के कारोबार से जुड़े लोगों की पहचान कर कानूनी कार्रवाई में लगी हुई है और जांच जारी है ।


दिव्यांग उपकरण मापन शिविर का आयोजन

संवाददाता-अभय कुमार मिश्रा


सीतापुर ! समग्र शिक्षा अभियान की समेकित शिक्षा के अंतर्गत, ब्लॉक संसाधन केंद्र लहरपुर में दिव्यांग बच्चों हेतु निशुल्क उपकरण मापन शिविर का आयोजन किया गया, जिसमें लगभग एक दर्जन विकास खंडों के 194 दिव्यांग बच्चों ने प्रतिभाग किया, जिसमें से 182 बच्चों को उपकरण हेतु उपयुक्त पाया गया 12 बच्चों को अनुपयुक्त पाया गया।शिविर में उपकरण बनाने वाली संस्था एलिम्को कानपुर के विशेषज्ञों द्वारा दिव्यांग बच्चों के उपकरणों का मापन किया गया। समेकित शिक्षा के जिला समन्वयक प्रमोद कुमार गुप्ता ने शिविर में उपस्थित अभिभावकों और शिक्षकों को संबोधित करते हुए कहा कि, दिव्यांगता को अभिशाप समझना सबसे बड़ा पाप है, क्योंकि मनुष्य में यादि किसी कारण से दिव्यांगता हो गई है तो ईश्वर उस मनुष्य में दूसरी विशेषताएं प्रदान कर देता है, आज देखने में आ रहा है कि दिव्यांग बहुत से क्षेत्रों में अपनी सेवाएं दे रहे हैं, बल्कि देश का नाम रोशन कर रहे हैं, आवश्यकता है उन्हें समाज में सम्मानजनक स्थान देने की। इस मौके पर खंड शिक्षा अधिकारी रणजीत कुमार ने कहा कि, दिव्यांग जनों के हेतु बहुत ही कल्याणकारी योजनाएं संचालित हैं, दिव्यांग बच्चों की शिक्षा के लिए अभिभावकों को संवेदनशील रहना चाहिए क्योंकि समग्र शिक्षा अभियान के अंतर्गत दिव्यांग बच्चों की शिक्षा की भी व्यवस्था है। इस अवसर पर विशेष शिक्षक अनुपम कुमार शुक्ला ने सहायक उपकरणों की देखभाल और रखरखाव के बारे में अभिभावकों को जानकारी दी। विशेष शिक्षक दिलीप बाजपेई व अनिता मिश्रा ने निर्देशन और परामर्श की आवश्यकता और महत्व पर प्रकाश डाला। इस अवसर पर शिक्षक अनवर अली, समाजसेवी हाजी सोहराब अली, जेड़ आर रहमानी, फुरकान अली, प्रमोद कुमार वर्मा, संदीप कुमार, मोहम्मद रफीक, मोहम्मद असद सिद्दीकी आदि ने भी अपने विचार प्रस्तुत किए। शिविर में एलिम्को कानपुर के विशेषज्ञ श्रीकांत सिंह, अनमोल आनंद, गोविंद कुमार ने परीक्षण और मापन किया। इस मौके पर जनपद के 1 दर्जन से अधिक विकास खंडों के दिव्यांग छात्रों ने भाग लिया।


तीन राष्ट्रभक्त विभूतियों का सम्मान

संवाददाता -अभय कुमार मिश्रा


सीतापुर। राज्य सभा के बाद लोकसभा से भी धारा 370 को हटाने का संकल्प पारित होने के बाद आज सीतापुर नगर में तीन विभूतियों का सम्मान किया गया, पूर्व विधायक भरत त्रिपाठी द्वारा पूर्व सांसद जनार्दन प्रसाद मिश्र, उमाकान्त मिश्रा, संतोष पाण्डेय का माल्यार्पण व अंगवस्त्र भेंट कर सम्मान व अभिनंदन किया गया। बताते चले कि धारा 370 के विरोध में तत्कालीन भाजपा के वरिष्ठ राष्टीय नेता डॉ मुरली मनोहर जोशी के नेतृत्व में एकता यात्रा निकाली गई थी जिसके अन्तर्गत 26 जनवरी 1992 को मुरली मनोहर जोशी द्वारा श्रीनगर के लाल चौक पर तिरंगा फहराकर यात्रा का समापन करना था, तब उस यात्रा में शामिल होने के लिए सीतापुर जिले से भी एक बस में सवार होकर लोग गए थे, वैसे तो सीतापुर से उस यात्रा में भाग लेने वाले अन्य भी कई लोग थे लेकिन सीतापुर नगर से मात्र 5 लोग ही उस बस में सवार होकर जम्मू पहुँचे थे जिनमें जनार्दन प्रसाद मिश्र , उमाकान्त मिश्र , प्रकाश नाथ मेहरोत्रा, श्याम जीत जायसवाल एवं सन्तोष पाण्डेय सीतापुर नगर से थे। सीतापुर नगर के भाजपा व विचार परिवार के लिए ये दुर्भाग्य की बात है कि आज धारा 370 के हटने की खुशी देखने व सुनने के लिए इन पांच नामों में श्यामजीत व प्रकाश मेहरोत्रा अब दिवंगत हो चुके हैं काश वे अगर जीवित होते तो वे भी ये शुभ दिन जरूर देखते!और गर्व महसूस करते खैर आज वे दोनों भले ही हमारे बीच मे नहीं हैं लेकिन स्वर्ग में उनकी आत्मा जरूर प्रसन्न हुई होगी। सीतापुर नगर के ये तीन राष्ट्रभक्त आज धारा 370 के हटने बाद गर्व की अनुभूति कर रहें हैं सरकार के इस ऐतिहासिक कदम का एक ओर सभी स्वागत कर रहे हैं,तो दूसरी ओर पूर्व विधायक भरत त्रिपाठी ने इन तीनो का अभिनंदन व सम्मानित किया। बातचीत में श्री जनार्दन मिश्र धारा 370 को हटाने के पल को ऐतिहासिक व अपने जीवन का सुखद दिन बताते है वे कहते है कि ये मुद्दा मेरे लिए राममन्दिर से भी बड़ा है मोदी और अमित शाह ने वो करके दिखा दिया जिसका लोग 50 साल से इंतजार कर रहे थे। एकता यात्रा में शामिल होने गए उमाकान्त मिश्र पुराने क्षणों को याद कर बताते हैं कि हम 5 लोग सीतापुर से एक बस में सवार होकर जम्मू गए थे जिसका 400 रुपया एक यात्री का शुल्क भी निर्धारित था वे कहते है कि जब हम लोगों की बस लुधियाना बार्डर क्रॉस कर रही थी तब हम लोगों की बस के आगे मुरादाबाद जिले की एक बस चल रही थी उस पर आतंक वादियों ने गोलियां बरसा दी थी जिसमें 1 कार्यकर्ता की मौत व दो गम्भीर रूप से घायल हो गए थे, पार्टी इस धारा को हटाने के लिए काफी लम्बे समय से संघर्ष कर रही थी आज मोदी जी ने ये शुभ दिन देश के सामने दिया है जिसका मुझे भी बहुत गर्व है। फिलहाल ये तीनों विचारनिष्ठ अपने आप को भाजपा से जुड़े होने को लेकर बहुत ही गौरवान्वित महूसस कर रहें है।


एसएसपी ने निकाला समाधान:बकरीद

मुरादाबाद । बर्तन बज़ार में शाही मस्जिद में इस बार ईद की नमाज़ पढ़ने आने वाले मुस्लिम भाइयों से गुज़ारिश है।इस बार सावन का आख़री सोमवार वाले दिन ही ईद उल ज़ुहा की नमाज़ है।


सोमवार में हिन्दू भाई बहन अपने मज़हब के मुताबिक़ अपने धार्मिक स्थलों में जाकर जल चढ़ायेंगे।इस लियें इस बार पुलिस प्रशासन के अनुरोध पर शाही मस्जिद में ईद की नमाज़ पढ़ने आने वाले भाई अपनी-अपनी दो पहिया गाड़िया भट्टी स्ट्रीट में पार्क करें, इस बार अगर मौसम साफ़ रहा तो आधी सड़क पर ही नमाज़ी ज़्यादा होने की शक़्ल में नमाज़ अदा करेंगे, आधी सड़क पर हिन्दू भाई बहन अपने कांवड़ की गाड़ियों के साथ आसानी से गुज़रेंगें।हिंदु भाइयों से भी गुज़ारिश है कि वो बस नमाज़ के कुछ वक़्त के दौरान अपने DJ मस्जिद के आगे से बंद कर के निकाल लें।दोनों पक्षों ने बहुत प्यार से इस इस मसले का हल निकाल लिया है। एसएसपी, एसपी सिटी, एडीएम सिटी सहित सभी पुलिस प्रशसन के अधिकारी बर्तन बज़ार में मौजूद थे, कावड़ पक्ष की तरफ़ से संजय कट्टा सहित काफ़ी लोग मौजूद थे, तो मुस्लिम पक्ष से सलीम बाबरी, रईस खां, शुएब हसन पाशा, सलीम बाबरी सहित काफ़ी लोग मौजूद थे।


बकरा ईद पर पता लगेगा:पब्लिक मूड

श्रीनगर । जम्मू-कश्मीर में शुक्रवार की नमाज और 12 अगस्त को पड़ने वाली ईद-उल-अजहा के मौके पर कर्फ्यू में ढील दी जा सकती है। अनुच्छेद 370 के हटने के बाद से ये ऐसा पहला मौका होगा जब केंद्र सरकार लोगों की प्रतिक्रिया को भांपेगी। इस दौरान सरकार ये जानने की कोशिश करेगी कि इस कदम से कश्मीरियों का क्या मूड है। हालांकि अभी केंद्र सरकार और राज्य प्रशासन मिलकर घाटी के हालातों पर नजर बनाए हुए हैं। इस दौरान राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल ने भी घाटी की जमीनी स्थिति का जायजा लेने के लिए वहां का दौरा किया। उन्होंने यहां के राज्यपाल सत्यापल मलिक और अन्य वरिष्ठ अधिकारियों के साथ बैठक भी की।फिलहाल घाटी में सुरक्षा तैनाती में ढील को निर्धारित करने के लिए किसी समय सीमा का अंदाजा नहीं लगाया जा रहा है। सूत्रों का कहना है कि जुमे की नमाज में धारा 144 के तहत कुछ ढील दी जा सकती है।


जम्मू संभाग में दुकानें तथा व्यापारिक प्रतिष्ठान खुलने शुरू 


बुधवार को घाटी से कई वीडियो वायरल हुए जिनमें तेजी से सुधर रहे हालात दिख रहे हैं। श्रीनगर में कुछ दुकानें खुलीं। सड़कों पर पाबंदियों के बाद भी आम लोग सड़कों पर निकले। दो पहिया वाहनों के साथ कार भी सड़कों पर दिखीं। प्रशासन की ओर से जिन परिवारों में शादियां हैं, उनके लिए अतिरिक्त प्रबंध किए जाने की खबर है। पिछले तीन दिनों से पूरे केंद्र शासित प्रदेश में स्थिति लगभग शांतिपूर्ण है। मंगलवार को पुंछ के बफलियाज इलाके में फैसले के विरोध में लोग सड़क पर उतर आए थे। उन्होंने इस दौरान पहुंची पुलिस पर पथराव कर दिया था। इसमें डीएसपी आपरेशन समेत तीन लोग घायल हो गए थे।


घाटी में पाबंदियों के साथ सुरक्षा बलों का कड़ा पहरा


अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद उत्पन्न हालात से निपटने के लिए महबूबा मुफ्ती, उमर अब्दुल्ला, सज्जाद गनी लोन, इमरान रजा अंसारी समेत विभिन्न दलों के 550 से अधिक नेताओं व कार्यकर्ताओं को अब तक हिरासत में रखा गया है। सुरक्षा बलों की ओर से शांति के लिए खतरा का हवाला देते हुए इन्हें हिरासत में लेकर श्रीनगर के एसकेआईसीसी तथा बारामुला व गुरेज में बनाए गए केंद्रों में इन्हें रखा गया है। हालांकि, प्रशासन की ओर से हिरासत में लिए गए लोगों के बारे में अधिकृत जानकारी नहीं दी गई है।


 


क्षेत्रीय विद्यार्थी मुख्यधारा से पिछड़े

पथरी । छत्तीसगढ़ के देहाती क्षेत्र अभी भी मुख्यधारा से पिछड़े हुए हैं। नगर और महानगरों में होने वाले आयोजनों में उनकी अपेक्षा की जाती है। जिसकी वजह से प्रतिभावान  छात्र एवं युवक सिमट कर रह जाते हैं। ठीक इसी प्रकार गांव-देहात के शिक्षकों को कोई महत्व नहीं जाता है। जब भी ब्लॉक स्तर पर या जिला स्तर पर कोई भी आयोजन रखा जाता हैं, तो शहरी क्षेत्रो के स्कूल-विधालयो को आयोजन का निमंत्रण और दायित्व देते हैं। गाँव के बच्चे और शिक्षक अपना समान लेकर, अपनी स्वयं की व्यवस्था पर आते है। प्रदर्शन करते हैं,उनके बच्चे यदि प्रथम या द्वितीय नहीं आते तो उन्हें सर्टिफिकेट भी नहीं दिया जाता है। अपना रुपय खर्च करके माडल बनाते हैं। दिन भर आयोजन स्थल पर प्रदर्शन करते हैं। उसके बाद भी बच्चों की मेहनत पर ध्यान नही दिया जाता है। कम से कम सर्टिफिकेट का हक तो मिलना चाहिए। बच्चों के लिए शहरों में बडे़-बडे़ आॅडिटोरियम बनाये गये है।गाँव के स्कूल में कन्ही भी आडिटोरियम नहीं है। फिर भी बाहर अच्छा प्रदर्शन करते हैं। गाँव के स्कूल के बच्चे, गाँव की तीन बालिकाओं ने पंजाब में करामतशोगी डो कराते में छग को तिसरा स्थान दिलवाया हैं। पथरी की तीन बालिकाओं को सिल्वर मैडल प्राप्त हुआ है।


3827आवेदन मांगे:शिक्षक-भर्ती

चंडीगढ़ । हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग (HSSE ) ने विभिन्न विषयों के अध्यापकों के 3827 पदों के आवेदन मांगे हैं l इच्छुक व् योग्य 20 अगस्त से 5 सितंबर 2019 आनलाईन आवेदन कर सकते हैं l


कुल पद : 3827
कंप्युटर साईंस : 1373
अंग्रेजी ः 530
मैथ : 522
इतिहास : 329
कोमर्स : 304
फिजीकल एजुकेशन : 241
हिंदी : 194
कैमिसट्री : 131
बायोलोजी : 127
म्युजिक: 35
फाईन आर्ट : 35
उर्दु : 6


शैक्षणिक योग्यता:
संबंधित विषय में एमए व बीएड
मैट्रिक या हायर में विषय के रूप में हिंदी / संस्कृत।
(ii) हरियाणा शिक्षक पात्रता परीक्षा उत्तीर्ण होने का प्रमाण पत्र
(HTET) / संबंधित विषय के स्कूल शिक्षक पात्रता परीक्षा (STET)।
(iii) “अच्छा अकादमिक रिकॉर्ड” लेने के बाद 5O% अंक पाने वाले उम्मीदवार
lOth / 12th / ग्रेजुएशन / पोस्ट से किसी भी तीन परीक्षाओं का औसत
मामले के रूप में स्नातक हो सकता है। हालांकि उम्मीदवार के पास होना चाहिए
पीजीटी कंप्यूटर साइंस को छोड़कर पोस्ट-ग्रेजुएशन में कम से कम 50% अंक
और पीजीटी कंप्यूटर विज्ञान के मामले में, उम्मीदवार को कम से कम होना चाहिए
पोस्ट ग्रेजुएशन / ग्रेजुएशन में 55% अंक हो।
आयु सीमा : 18-42 वर्ष
आनलाईन आवेदन की तिथि : 20 अगस्त से 5 सितंबर 2019
आनलाईन फीस भरने की तिथि: 9 सितंबर 2019
यहां करें आनलाईन आवेदन : www.hssc.gov.in
वेतनमान: पे मैट्रिक्स लेवल -8 में (रु। 47,600-1,51,100)


मानसिक उपचार की आवश्यकता:न्यायमूर्ति

नई दिल्ली । राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (एनएचआरसी) के अध्यक्ष न्यायमूर्ति श्री एच.एल.दत्तू ने कहा है कि देश में मानसिक स्वास्थ्य देखभाल क्षेत्र को सुधारने के प्रयास किए गए हैं लेकिन अभी भी इस क्षेत्र में आवश्यक सुविधा और उपलब्धता के बीच खाई बनी हुई है। यह बात उन्होंने आज नई दिल्ली के इंडिया इंटरनेशनल सेन्टर में मानसिक स्वास्थ्य पर एनएचआरसी की राष्ट्रीय स्तर की समीक्षा बैठक का उद्घाटन अवसर पर कही। उन्होंने कहा कि मानसिक स्वास्थ्य क्षेत्र की निगरानी नीति के साथ-साथ मानसिक स्वास्थ्य देखभाल नियम 2017 के लागू होने के बाद की जमीनी वास्तविकताओं का मूल्यांकन करना आवश्यक है। न्यायमूर्ति श्री दत्तू ने कहा कि देश में 13500 मनोरोग चिकित्सकों की आवश्कता है लेकिन 3827 ही उपलब्ध हैं। 20250 क्लीनिकल मनोरोग चिकित्सकों की आवश्कता है जबकि केवल 898 उपलब्ध हैं। इसी तरह पैरामैडिकल स्टाफ की भी भारी कमी है।


मानवाधिकार आयोग के अध्यक्ष ने बंदियों की मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं का जिक्र किया और कहा कि ऐसे बंदियों के अधिकारों की रक्षा करना मानसिक स्वास्थ्य देखभाल अधिनियम, 2017 के खंड 103 के अंतर्गत राज्य का दायित्व है और उच्चतम न्यायालय ने भी हाल के अपने एक निर्णय में इस पर बल दिया है।स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के विशेष सचिव श्री संजीव कुमार ने मानसिक स्वास्थ्य देखभाल में सुधार की दिशा में सरकार के प्रयासों की जानकारी देते हुए सभी हितधारकों की अधिक भागीदारी की आवश्यकता पर बल दिया। उन्होंने कहा कि 19 राज्यों ने अब तक मानसिक स्वास्थ्य देखभाल अधिनियम को लागू किया है। उन्होंने बताया कि देश की 10.6 प्रतिशत युवा आबादी मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं से पीड़ित है। यह बहुत बड़ी संख्या है और इसके लिए सुरक्षा कवच, कानूनी रूपरेखा तथा चिकित्सा सुविधाओं वाली समग्र सोच की जरूरत है। उन्होंने इस विषय पर विभिन्न हितधारकों को एक साथ लाने और सहयोग भावना से स्थिति सुधारने के लिए मानवाधिकार आयोग की प्रशंसा की।इससे पहले राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग के महासचिव श्री जयदीप गोविंद ने मानसिक स्वास्थ्य के संदर्भ में आयोग के कार्यों की जानकारी दी और कहा कि यह सभी के लिए अच्छे स्वास्थ्य पर बल देने वाले विकास लक्ष्य-3 का हिस्सा है। उन्होंने कहा कि कुछ राज्यों ने अच्छे व्यवहारों को अपनाया है और दूसरे राज्यों को इन व्यवहारों को अपनाना चाहिए।बैठक में मानवाधिकार आयोग के सदस्य न्यायमूर्ति श्री पी.सी.पंत, महासचिव श्री जयदीप गोविंद और संयुक्त सचिव श्री दिलीप कुमार और अन्य अधिकारियों के अतिरिक्त केन्द्रीय स्वास्थ्य सचिव सुश्री प्रीति सूदन, संबंधित मंत्रालयों, राज्य सरकारों के प्रतिनिधि, राज्यों के मानवाधिकार आयोगों, भारतीय चिकित्सा परिषद, भारतीय नर्सिंग परिषद, मानसिक स्वास्थ्य संस्थानों के निदेशक, मानसिक स्वास्थ्य विशेषज्ञ, एनजीओ तथा सिविल सोसाइटी संगठनों के प्रतिनिधि उपस्थित थे।


सुविधाएं-उपलब्धता के बीच खाई:एनएचआरसी

नई दिल्ली । राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (एनएचआरसी) की राष्ट्रीय स्तर की बैठक मानसिक स्वास्थ्य के क्षेत्र में कानून और उसको लागू करने के बीच की खाई पर भी चर्चा की गई। आयोग के अध्यक्ष न्यायमूर्ति श्री एच.एल.दत्तू ने बैठक का उद्घाटन करते हुए कहा कि देश में मानसिक स्वास्थ्य देखभाल क्षेत्र को सुधारने के प्रयास किए गए हैं। लेकिन अभी भी इस क्षेत्र में आवश्यक सुविधा और उपलब्धता के बीच खाई बनी हुई है।


उन्होंने कहा कि मानसिक स्वास्थ्य क्षेत्र की निगरानी नीति के साथ-साथ मानसिक स्वास्थ्य देखभाल नियम 2017 के लागू होने के बाद की जमीनी वास्तविकताओं का मूल्यांकन करना आवश्यक है। न्यायमूर्ति श्री दत्तू ने कहा कि देश में 13500 मनोरोग चिकित्सकों की आवश्कता है लेकिन 3827 ही उपलब्ध हैं। 20250 क्लीनिकल मनोरोग चिकित्सकों की आवश्कता है जबकि केवल 898 उपलब्ध हैं। इसी तरह पैरामैडिकल स्टाफ की भी भारी कमी है।


मानवाधिकार आयोग के अध्यक्ष ने बंदियों की मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं का जिक्र किया और कहा कि ऐसे बंदियों के अधिकारों की रक्षा करना मानसिक स्वास्थ्य देखभाल अधिनियम, 2017 के खंड 103 के अंतर्गत राज्य का दायित्व है और उच्चतम न्यायालय ने भी हाल के अपने एक निर्णय में इस पर बल दिया है।स्वास्थ्य परिवार और कल्याण सचिव सुश्री प्रीति सूदन ने कहा कि देश में मानसिक स्वास्थ्य देखभाल प्रणाली को सुधारने के काम में केंद्र सक्रिय भूमिका निभा रहा है। उन्होंने कहा कि इसके लिए राज्यों का सहयोग आवश्यक है। उन्होंने कहा कि धन की कोई कमी नहीं है लेकिन राज्यों को मानसिक स्वास्थ्य देखभाल अधिनियम, 2017 को लागू करने के प्रस्ताव के साथ आगे आना होगा। उन्होंने कहा कि इसके लिए राज्यों को खर्च के बारे में समय से रिपोर्ट देनी होगी।स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के विशेष सचिव श्री संजीव कुमार ने मानसिक स्वास्थ्य देखभाल में सुधार की दिशा में सरकार के प्रयासों की जानकारी देते हुए सभी हितधारकों की अधिक भागीदारी की आवश्यकता पर बल दिया। उन्होंने कहा कि 19 राज्यों ने अब तक मानसिक स्वास्थ्य देखभाल अधिनियम को लागू किया है। उन्होंने बताया कि देश की 10.6 प्रतिशत युवा आबादी मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं से पीड़ित है। यह बहुत बड़ी संख्या है और इसके लिए सुरक्षा कवच, कानूनी रूपरेखा तथा चिकित्सा सुविधाओं वाली समग्र सोच की जरूरत है। उन्होंने इस विषय पर विभिन्न हितधारकों को एक साथ लाने और सहयोग भावना से स्थिति सुधारने के लिए मानवाधिकार आयोग की प्रशंसा की।


इससे पहले राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग के महासचिव श्री जयदीप गोविंद ने मानसिक स्वास्थ्य के संदर्भ में आयोग के कार्यों की जानकारी दी और कहा कि यह सभी के लिए अच्छे स्वास्थ्य पर बल देने वाले विकास लक्ष्य-3 का हिस्सा है। उन्होंने कहा कि कुछ राज्यों ने अच्छे व्यवहारों को अपनाया है और दूसरे राज्यों को इन व्यवहारों को अपनाना चाहिए।राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग के सदस्य न्यायमूर्ति श्री पी.सी.पंत ने आशा व्यक्त की कि सम्मेलन में दिए गए सुझाव कानून और उसको लागू करने की बीच की खाई को पाटने में सहायक होंगे।बैठक में मानवाधिकार आयोग के सदस्य न्यायमूर्ति श्री पी.सी.पंत, महासचिव श्री जयदीप गोविंद और संयुक्त सचिव श्री दिलीप कुमार और अन्य अधिकारियों के अतिरिक्त केन्द्रीय स्वास्थ्य सचिव सुश्री प्रीति सूदन, संबंधित मंत्रालयों, राज्य सरकारों के प्रतिनिधि, राज्यों के मानवाधिकार आयोगों, भारतीय चिकित्सा परिषद, भारतीय नर्सिंग परिषद, मानसिक स्वास्थ्य संस्थानों के निदेशक, मानसिक स्वास्थ्य विशेषज्ञ, एनजीओ तथा सिविल सोसाइटी संगठनों के प्रतिनिधि उपस्थित थे।


पेशी पर गई महिला से कॉन्स्टेबल ने किया रेप

नई दिल्ली । इंसानियत को शर्मसार कर देने वाला मामला राजधानी दिल्ली से सामने आया है। यहाँ एक पुलिस वाले की इस हैवानियत ने पुलिस महकमे का सिर शर्म से झुका दिया। बता दे यहाँ एक महिला ने दिल्ली पुलिस के हेड कांस्टेबल पर चलती ट्रेन में बलात्कार करने का सनसनीखेज आरोप लगाया है। इस मामले में पीड़ित महिला ने एफआईआर भी दर्ज करा दी है। जानकारी के लिए बताते चले तिहाड़ जेल में बंद एक पीड़ित महिला ने आरोप है की कि जब वो कोर्ट में पेशी के बाद बीते तीन अगस्त को पश्चिम बंगाल से राजधानी दिल्ली लौट रही थी तब उसके साथ गए आरोपी कांस्टेबल ने चलती ट्रेन में उसके साथ बलात्कार किया। महिला ने कहा कि कांस्टेबल ने उसे ट्रेन के बाथरूम में अपनी हवस का शिकार बनाया। वही इस मामले में पुलिस महकमे में हडकंप मच गया है। आगे पीड़ित महिला ने बताया की बलात्कार करने के बाद आरोपी पुलिस कांस्टेबल ने किसी को इस बात की जानकारी देने पर अंजाम भुगतने की भी धमकी दी थी। वो जब अगली सुबह तिहाड़ जेल पहुंची तो उसने आरोपी के खिलाफ केस दर्ज करवाया।


जानिए इस घटना पर क्या कहते है रेल पुलिस के डीसीपी सूत्रों के मिली जानकारी के मुताबिक इस घटना रेल पुलिस के डीसीपी दिनेश कुमार गुप्ता ने कहा, 'महिला की शिकायत पर हमने केस दर्ज कर लिया है और इस मामले की जांच की जा रही है।' जानकारी के लिए बताते चले कि पुलिस के द्वारा दी गयी जानकारी के  मुताबिक पीड़ित महिला के खिलाफ किडनैंपिंग के दो केस पश्चिम बंगाल और दिल्ली में दर्ज है। 1 अगस्त को महिला को दिल्ली से पश्चिम बंगाल एक ऐसे ही मामले में पेशी के लिए ले जाया गया था और उसके साथ पांच पुलिसकर्मी थे। महिला के साथ दो महिला कांस्टेबल, दो पुरुष कांस्टेबल और एक हेड कांस्टेबल था।


फारुख की कनपटी पर बंदूक नहीं:शाह

नई दिल्ली । नेशनल काॅन्फ्रेंस के वरिष्ठ नेता फारुक अब्दुल्ला जब धारा 370 को समाप्त करने वाले विधेयक को लोकसभा में पेश किये जाने के बाद यहां अनुपस्थित दिखे तो राष्ट्रीय कांग्रेस पार्टी की सुप्रिया सुले ने इस पर सवाल उठाया।
इस पर अमित शाह ने जवाब देते हुए कहा कि फारुक अब्दुल्ला को न तो हिरासत में लिया गया है और न ही उन्हें घर में नजरबंद रखा गया है। वे घर में स्वस्थ भी हैं। मस्ती में रह रहे हैं और खा-पी रहे हैं। वे अपनी इच्छा से घर में हैं।अब्दुल्ला के सदन में न होने पर सवाल खड़े करने पर शाह ने कहा कि अब उनकी कनपटी पर बंदूक रखकर तो उन्हें यहां नहीं ला सकते। गौरतलब है कि शाह पर आरोप लग रहे थे कि फारूक अब्दुल्ला को घर में नजरबंद कर दिया गया है।


बच्चों का विकास एवं स्वास्थ्य (विविध)

बच्चों में विकासात्मक मील के पत्थर-एक परिचय
बच्चों का विकास एक जटिल एवं सतत प्रक्रिया है। उन्हें एक खास आयु में कार्य-विशेष करने में सक्षम होना चाहिए। ये विकासात्मक मील के पत्थर कहलाते हैं। एक माता या पिता होने के नाते, यह समझना महत्वपूर्ण है कि कोई भी दो बच्चे समान रूप से विकसित नहीं होते। इसलिये, इस बारे में चिंता करना व्यर्थ है कि पड़‍ोस का बच्चा यह या वह कर सकता है, लेकिन उसका बच्चा नहीं। विभिन्न गतिविधियों के लिए दर्ज़ की गई आयु पर, बच्चे को कुछ समय तक ध्यान से देखना चाहिए।


यदि कुछ महीने बाद भी वह कोई विशेष गतिविधि प्रदर्शित नहीं करता हो, तो बाल-रोग विशेषज्ञ से परामर्श लिया जाना चाहिए। यह इस तथ्य को ध्यान में रखता है कि बच्चा अलग तरीके से व्यवहार कर रहा है क्योंकि वह बीमार या व्यथित है। कभी-कभी बच्चा कुछ क्षेत्रों में समान आयु के अन्य बच्चों की तुलना में अधिक धीमी गति से विकसित हो सकता है जबकि उसकी अन्य गतिविधियां दूसरे बच्चे से आगे हो सकती हैं। जबकि बच्चा चलना सीखने के लिए तैयार नहीं हो, तब उसे चलना सीखने के लिए विवश करने पर कोई नतीज़ा नहीं निकलेगा।


विकासात्मक विलम्ब के लिए त्वरित परख
2 महीने– मित्रवत मुस्कान
4 महीने– गर्दन सीधी रखने में सक्षम
8 महीने– बगैर सहारे के बैठना
12 महीने– खड़ा होना
जन्म से 6 हफ्तों तक
बच्चा पीठ के बल लेटकर सिर एक ओर घुमाकर रखता है
अचानक आवाज़ उसे चौंकाती है जिससे उसका शरीर कड़क हो जाता है
मुट्ठियां भिंच जाती हैं
बच्चा पीठ के बल लेटकर सिर एक ओर घुमाकर रखता है
अचानक आवाज़ उसे चौंकाती है जिससे उसका शरीर कड़क हो जाता है
मुट्ठियां भिंच जाती हैं
बच्चा उसकी हथेली पर कोई चीज़ हल्के से छुआने पर उसे कसकर पकड़ लेता है;
यह पकड़ की प्रतिक्रिया
6 से 12 हफ्ते
अपना सिर अच्छे तरीके से स्थिर रखना सीखता है
वस्तुओं पर अपनी निगाह स्थिर रख सकता है
3 महीने
पीठ के बल लेटे-लेटे बच्चा अपना प्रत्येक हाथ एवं पैर समान तरीके से, अच्छे से हिलाता है। हरकतें झटकेदार नहीं होतीं या अ-समन्वित तरीके से नहीं होतीं हैं।
बच्चा माता को पहचानता है एवं उसकी आवाज़ पर प्रतिक्रिया देता है ।
बच्चे के हाथ अक्सर खुले होते हैं ।
जब बच्चे को सीधा पकड़कर रखा जाए तो वह एक क्षण से अधिक समय के लिए अपने सिर का वज़न सम्भाल सकता है।
6 महीने
बच्चा अपने हाथों को साथ में मिलाकर खेलता है ।
बच्चा उसके आसपास की जाने वाली आवाज़ें सुनकर उनकी दिशा में अपना सिर घुमाता है ।
बच्चा पेट से पीठ के बल या पीठ से पेट के बल पलटी मार सकता है।
बच्चा थोड़ी देर के लिए सहारा लेकर बैठ सकता है।
जब बच्चे को सीधा पकड़ा जाए तो वह अपने पैरों पर कुछ वज़न ले सकता है।
जब पेट के बल लेटा हो, तो बच्चा उसका वज़न तने हुए हाथों पर ले सकता है।
9 महीने
बच्चा सहारे के बगैर एवं बगैर अपने शरीर को अपने हाथों से पकड़े बैठ सकता है ।
बच्चा रेंग सकता है या अपने हाथों तथा घुटनों के बल चल सकता है।
12 महीने
बच्चा खड़ा हो सकता है।
बच्चा 'मामा' जैसे शब्द बोलना शुरू कर देता है।
बच्चा फर्नीचर आदि को पकड़कर चलने में सक्षम होता है।
18 महीने
बच्चा बगैर मदद के ग्लास पकड़ सकता है एवं बगैर गिराए उससे पी सकता है ।
बच्चा बगैर गिरे या लड़खड़ाए एक बड़े कक्ष में इधर से उधर तक बगैर सहारे के चल सकता है।
बच्चा कुछ शब्द बोल सकता है।
बच्चा अपने आप खा सकता है।
2 वर्ष
बच्चा पजामे जैसे कुछ कपड़े उतार सकता है।
बच्चा बगैर गिरे दौड़ सकता है ।
बच्चा तस्वीरों की पुस्तक की तस्वीरों में रुचि दर्शाता है ।
बच्चा जो कहना चाहता है वह कह सकता है ।
बच्चा अन्यों द्वारा कहे गए शब्द दोहराना शुरु कर देता है ।
बच्चा उसके शरीर के कुछ हिस्सों की ओर इंगित करने में सक्षम होता है।
3 वर्ष
बच्चा कन्धे के ऊपर से गेन्द फेंक सकता है (कन्धे के समानांतर या नीचे से नहीं।
"बच्चा “तुम लड़का हो या लड़की?” जैसे आसान प्रश्नों के उत्तर दे सकता है।
बच्चा वस्तुएं उठाकर इधर-उधर रखने में मदद करता है।
बच्चा कम से कम एक रंग का नाम ले सकता है।
4 वर्ष
बच्चा एक ट्राइसिकल को पैडल से चला सकता है।
बच्चा पुस्तकों या पत्रिकाओं में तस्वीरों के नाम बता सकता है।
5 वर्ष
बच्चा अपने कुछ कपड़ों के बटन बन्द कर सकता है ।
बच्चा कम से कम तीन रंगों के नाम बता सकता है।
बच्चा एक के बाद दूसरे कदम के इस्तेमाल से सीढ़ियां उतर सकता है।
बच्चा अपने पैर दूर-दूर रखकर उछल सकता है।


निष्कर्ष तक नहीं पहुंची डीएम रिपोर्ट

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के रामाधीन सिंह इंटर कालेज की आंड़ में हिस्ट्रीशीटर भूमाफिया द्वारा किये गए अवैध कब्जों-अवैध निर्माणों के विरुद्ध दर्ज कराई गई शिकायत पर-


संजय आजाद की कलम से 


लखनऊ । राज्य मानव अधिकार आयोग, लखनऊ ने लिया संज्ञान, जिलाधिकारी लखनऊ ने सौंपी जांच रिपोर्ट ! कलेक्टर साहब ने 500 करोड़ रुपये की नजूल भूमि को बचाने के वास्ते रिपोर्ट लगाई या फिर भ्रष्टाचारियों को बचाने में अपनी कलम फंसाई?संजय आजाद ने दिनांक 05 अगस्‍त को सायंकाल मानव अधिकार आयोग उत्तर प्रदेश लखनऊ में सूचना के अधिकार के तहत प्राप्त कराये गये आवेदन पत्र के क्रम में आयोग द्वारा चाहे गए रूपये 22/- नकद जमा कर दिये। बताते चलें कि राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग नई दिल्ली ने हमारी उक्त शिकायत का संज्ञान लेते हुए उत्तर प्रदेश राज्य मानव अधिकार को संदर्भित कर दिया था जिसपर आयोग ने जिलाधिकारी लखनऊ से जांच आख्या तलब कर गत 6 सप्ताह के भीतर मांगी थी। आयोग से संपर्क करने पर जानकारी दी गई कि जिलाधिकारी लखनऊ की जांच रिपोर्ट आ चुकी है जिसे मुझ शिकायतकर्ता को ऐसे नहीं दिखाई जा सकती।  जिलाधिकारी लखनऊ की 11 पेज की जांच आख्या के क्रम में मेरे द्वारा रूपये 22/- आज जमा कर दिया गया है। अब देखना होगा कि राजधानी के कलेक्टर कौशल राज शर्मा साहब ने दबंग हिस्ट्रीशीटर भूमाफिया प्रबंधक द्वारा अपनी दबंगई के बल पर कालेज की आंड़ में लखनऊ विकास प्राधिकरण से सांठगांठ कर हथियाई गई लगभग 500 करोड़ रूपये की नजूल भूमि को बचाने के दृष्टिगत ईमानदारी से अपनी कलम चलाई है या फिर भ्रष्टाचारियों के बचाव में अपनी कलम फंसाई है?


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

1.अंक-06(साल-01)
2. शुक्रवार,9 अगस्‍त 2019
3.शक-1941,श्रावन शुक्‍लपक्ष नवमी,विक्रमी संवत 2076
4. सूर्योदय प्रातः 5:45,सूर्यास्त 7:08
5.न्‍यूनतम तापमान 28 डी.सै.,अधिकतम-35 डी.सै. हवा में आद्रता रहेगी!
6. समाचार पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है! सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा!
7. स्वामी,मुद्रक, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम के द्वारा प्रकाशित


8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार लोनी गाजियाबाद 201102
9. संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी गाजियाबाद 201102
email:universalexpress.editor@gmail.com
cont.935030275


रिश्तो में खटास आ सकती है: मीन

राशिफल


मेष राशि : आज आपका दिन बेहतरीन रहने वाला है, आज आप जो भी काम शुरू करेंगे उसमें आपको सफलता जरुर मिलेगी । जो लोग सरकारी नौकरी से जुड़े हैं, उनके लिए दिन उत्तम रहने वाला है। लंबे समय से प्रमोशन में आ रही रुकावटें आज दूर हो सकती हैं। जिनकी जॉब अभी नयी-नयी शुरू हुयी है, उनको आॅफिस में साथियों का सहयोग प्राप्त होगा। हॉस्टल में रह रहे छात्र पढ़ाई पर ध्यान दें । उन्हें ज्यादा मेहनत करने की आवश्यक्ता है । भविष्य में मेहनत का लाभ आपको जरूर मिलेगा। भगवान शिव को प्रणाम पूजा करें, आपको अवश्य ही लाभ मिलेगा।


वृष राशि : आज आपका दिन बढ़िया रहने वाला है। आज परिवार के लोगों से आपको भरपूर सहयोग प्राप्त होगा। खासकर कि आपके प्रति बड़ों का प्यार बना रहेगा। साथ ही बच्चे आपसे खुश रहेंगे। आज आप नये बिजनेस को शुरू करने का विचार करेंगे। आज किसी भी कार्य में सफलता आपके हाथ जरूर लगेगी । आज तरक्की के किसी भी अवसर को अपने हाथ से ना जाने दें, कोई भी छोटा चांस आपको मालामाल बना सकता है। आज कम मेहनत में ज्यादा फल पाने वाला दिन हैं, इसे आप अपने परिश्रम से और भी अच्छा बना सकते हैं। श्री हरि का ध्यान करें, अपको तरक्की मिलेगी।


मिथुन राशि : आज आपका दिन सामान्य रहने वाला है। आज परिश्रम के अनुरुप फल थोडा कम ही मिल पायेगा । प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे छात्रों को मेहनत की जरूरत है। छात्रों को मेहनत से सफलता जरूर मिलेगी । एक निर्धारित टाइम टेबल बनाकर पढ़ाई करें। जिन लोगों की नयी-नयी शादी हुयी है, उनके लिए दिन उत्तम रहने वाला है। आपको पार्टनर का प्यार और सहयोग मिलेगा। कहीं बाहर घूमने जाने का प्लान भी बना सकते हैं। गाय को रोटी खिलाएं, आपको अपनी ।


कर्क राशि : आज आपका दिन अच्छा रहने वाला है। जो छात्र कॉलेज में एडमिशन लेने के लिये तैयारी कर रहे हैं, वो जल्द ही अपनी तैयारीयां पूरी कर लेंगे। टीचर का पूरा सहयोग आपको मिलेगा। लेकिन जो छात्र विदेश में उच्च शिक्षा ग्रहण करने के लिये जाना चाहते हैं, उन्हें थोड़ा इंतजार करना पड़ सकता है। आज कोई भी काम करते समय आपको बुजुर्गों का आशीर्वाद जरुर लेना चाहिये। इससे आपको अपने काम में मदद मिलेगी। साथियों के साथ आपका दिन अच्छा गुजरेगा । मन्दिर में पुष्प चढ़ाएं, दिन अच्छा गुजरेगा।


सिंह राशि : आज का दिन मिली-जुली प्रतिक्रिया देने वाला रहेगा। कोई भी बड़ा काम शुरू करने से पहले उस क्षेत्र से जुड़े लोगों की राय जरुर ले लें । आज बिजनेस में कम मुनाफा का योग हैं। जिन लोगों का होल सेल का बिजनेस है, उनके काम में सामान्य रूप से गति बनी रहेगी। आपको अपने स्वास्थ्य के प्रति सचेत रहने की जरुरत है। बदलते मौसम का आपको ध्यान रखना होगा। आपको हृदय से जुड़ी कोई दिक्कत हो सकती है। आॅफिस में आपको काम में किसी का सहयोग मिल सकता है। जरूरतमंद बच्चों को भोजन कराएं, आपकी सभी परेशानी दूर होगी।


कन्या राशि : आज आपका दिन बेहतरीन रहने वाला है । कोई ऐसी चीज हासिल कर पायेंगे, जिसकी आपको बहुत कम उम्मीद थी। आज आपके मन में नए-नए क्रिेएटिव आइडिया आयेंगे, जिनका आप बखूबी इस्तेमाल भी करेंगे। आॅफिस में हर कोई आपके काम से खुश रहेगा। आपके जुनियर भी आपसे काम सिखने आयेंगे। किसी महिला मित्र से आज आपकी मुलाकात हो सकती है। आप आॅउट आॅफ स्टेशन जाने का मन बना सकते हैं। सेहत के मामले में दिन अच्छा रहेगा। शिवलिंग पर जल चढ़ायें, खुशियां बनी रहेगीं।


तुला राशि : आज आपका दिन पहले से थोड़ा बेहतर होगा। किसी पर भी तुरंत भरोसा ना करें, ये आपके लिये थोड़ा परेशानी भरा हो सकता है। बिजनेस में लेन-देन का ख्याल रखें । कोई बड़ी डील करने से पहले सब कुछ जांच-परख कर लें। जो महिलाए गृह उद्योग शुरू करना चाहती हैं, उनको परिवार से पूरा सहयोग मिलेगा। आज माता के स्वास्थ्य के प्रति आपको ध्यान रखना चाहिए, उन्हें पैरों में दर्द की समस्या हो सकती है। प्राइवेट जॉब वालों के लिए दिन ठीक रहेगा। श्री विष्णु के मंदिर में देशी घी का दीपक जलायें, परेशानियों से बचे रहेंगे।


वृश्चिक राशि : आज आपका दिन बेहतर रहेगा। बस आपको अपनी वाणी पर संयम रखना होगा। मुंह से निकली हुई एक गलत बात आपको परेशानी में डाल सकती है। आज   घर पर कोई रिश्तेदार आ सकता है। आपको उनसे अच्छा व्यवहार बनाकर रखना चाहिए। जो लोग घर शिफ्ट करना चाह रहे हैं, वो लोग आज शिफ्टिंग का कार्य शुरू करवा सकते हैं। अगर मन में कोई बात आपको परेशान कर रही है, तो अपने दोस्तों से इस बारे में बात करें, आपको अच्छा लगेगा। किसी बुजुर्ग महिला का आशीर्वाद लें, दिन अच्छा गुजरेगा।


धनु राशि : आज आपका दिन अच्छा रहने वाला है। धार्मिक कार्यो में आपकी रुचि बढ़ेगी। आज आप किसी विशेष पूजा का हिस्सा बन सकते हैं। लंबे समय से फंसा हुआ धन आज आपको वापस मिल सकता है। जो लोग स्वास्थ्य सेवाओं से जुड़े हैं, उनके लिए आज का दिन उत्तम रहेगा। आपको मनचाही जगह पर ट्रांसफर का आॅफर मिल सकता है। आई.आई.टी या किसी भी टैक्नीकल परीक्षा की तैयारी कर रहे छात्रों को आज गुरुजनों का विशेष सहयोग मिलेगा। भगवान विष्णु को शहद का भोग लगाएं, आपको गुरुजनों का सहयोग मिलता रहेगा।


मकर राशि : आज आपके जीवन में कुछ बदलाव आ सकते हैं। आपको कुछ काम करने के लिये ज्यादा मेहनत करनी पड़ेगी। जो लोग होटल या रेस्टोरेंट जैसे बिजनेस से जुड़े हैं, उनके लिये दिन पहले से थोड़ा बेहतर रहेगा। जो लोग अपने बिजनेस को शिफ्ट करना चाहते हैं या कोई दूसरी ब्रांच खोलना का आज इसकी प्लॉनिंग कर सकते हैं। आज आपको जीवन और कार्यक्षेत्र दोनों में पिता का सहयोग मिलेगा। पारिवारिक रिश्तों में मिठास बनी रहेगी। शिवलिंग पर नारियल अर्पित करें, आपके काम आसान हो जायेंगे।


कुंभ राशि : आज आपका दिन पहले से ज्?ादा लाभ दिलवाने वाला रहेगा। लंबे समय से चल रही कोई योजना आज पूरी हो जायेगी। कोई नया काम शुरू करने के बारे में भी सोच सकते हैं, दिन आपके लिये लाभकारी होगा। वाहन चलाते समय आपको जरूरी कागजात अपने साथ रखने चाहिए, आपको जरुरत पड़ सकती है। जो लोग कला या संगीत के क्षेत्र से जुड़े हैं, उनके लिये आज का दिन उत्तम रहने वाला है। आपको बड़े बड़े सिंगर का सहयोग मिल सकता है। आपके प्रयास सफल होंगे। बेल पत्र पर ऊँ लिखकर शिवलिंग पर चढ़ाएं, आपका दिन अच्छा रहेगा।


मीन राशि : आप आपका दिन बढ़िया रहेगा । आप अपने विवेक का इस्तेमाल करके सब कुछ हासिल कर सकते हैं । अपने विचारों को मूर्त रूप देने में आप कामयाब रहेंगे । आज हर कोई आपकी प्रशंसा करेगा । लेकिन ध्यान रहे किसी पर भी अनावश्यक शक ना करें, इससे आपके रिश्तों में खटास आ सकती है। प्रेम संबंधों के मामले में दिन अच्छा रहेगा। आप पार्टनर के साथ डिनर पर जाने का प्लॉन बना सकते हैं। छात्र परीक्षा परिणाम का इंतजार कर सकते हैं। आपका सारा ध्यान उसी तरफ रहेगा। सूर्य देवता को प्रणाम करें, आपके साथ सब अच्छा होगा।


प्रथम ज्योतिर्लिंग सोमनाथ का वर्णन

कपिला नगरी के कालेश्वर रामेश्वर आदि की महिमा बताते हुए सूत जी ने समुद्र के तट पर स्थित गोकर्ण क्षेत्र के शिवलिंग की महिमा का वर्णन किया । फिर महाबल नामक शिवलिंग का अद्भुत महत्व सुनाकर अन्य बहुत से शिव लिंगों की विचित्र महत्त्व कथा का वर्णन करने के पश्चात ऋषियों के पूछने पर वह ज्योतिर्लिंगों का वर्णन करने लगे। सूत जी बोले, ब्राह्मणों मैंने सतगुरु से जो कुछ सुना है वह ज्योतिर्लिंगों का महत्व तथा अनेक प्राकट्य का प्रसंग अपनी बुद्धि के अनुसार संक्षेप से ही सुनाऊंगा। तुम सब लोग सुनो, मुनि, ज्योतिर्लिंगों में सबसे पहले सोमनाथ का नाम आता है। अतः पहले उन्हीं के महत्व को सावधान होकर सुनो। मुनीश्वर! महामना प्रजापति दक्ष ने अपनी अश्वनी आदि 27 कन्याओं का विवाह चंद्रमा के साथ किया। चंद्रमा को स्वामी के रूप में पाकर वे दक्ष कन्याएं विशेष शोभा पाने वाली तथा चंद्रमा भी उन्हें पत्नी के रूप में पाकर निरंतर सुशोभित होने लगे। उन पत्नियों में जो भी रोहनी नाम की पत्नी थी। एकमात्र वही चंद्रमा को जितनी प्रिय थी, उतनी दूसरी कोई पत्नी कदापि प्रिय नहीं थी। इससे दूसरी स्त्रियों को बड़ा दुख हुआ। वह सब अपने पिता की शरण में गई। वहां जाकर उन्होंने जो भी दुख था, उसे पिता को निवेदन किया। जो वह सब सुनकर दक्ष भी दुखी हो गए और चंद्रमा के पास आकर शांतिपूर्वक बोले। दक्ष ने कहा, कलानिधि तुम निर्मल कुल में उत्पन्न हुए हो तुम्हारे आसरे में रहने वाली जितनी स्त्रियां हैं। उन सब के प्रति तुम्हारे मन में न्यूनअधिक भाव क्यों है? तुम किसी को भी अधिक और किसी को भी कम प्यार क्यों करते हो? अब तक जो किया सो किया। अब आगे फिर कभी ऐसे विषमता पूर्ण बर्ताव मत करना। क्योंकि उसे नर्क देने वाला बताया गया है। सूत जी कहते हैं, ऋषिवरो,अपने दामाद चंद्रमा से स्वयं ऐसी प्रार्थना करके प्रजापति दक्ष चले आए। उन्हें पूर्ण निश्चय हो गया था कि अब ऐसा नहीं होगा। पर चंद्रमा ने प्रबल भावी विवश होकर उनकी बात नहीं मानी। वे रोहिणी में इतने आसक्त हो गए थे कि दूसरी किसी पत्नी का कभी आदर नहीं करते थे। इस बात को सुनकर दुखी हो फिर स्वयं चंद्रमा को उत्तम नीति से समझाने ,न्याय उचित बर्ताव के लिए प्रार्थना की। दक्ष बोले, चंद्रमा सुनो, एक बार तुम से प्रार्थना कर चुका हूं फिर भी तुमने मेरी बात नहीं मानी इसलिए आज साप देता हूं कि तुम्हें अक्षय का रोग हो जाए ।सूत जी कहते हैं, दक्ष के इतना कहते ही क्षण भर में चंद्रमा अक्षय रोग से ग्रस्त हो गए। उनके क्षय होते ही उस समय सब ओर महान हाहाकार मच गया। सब देवता और ऋषि कहने लगे कि हाय अब क्या करना चाहिए। चंद्रमा कैसे ठीक हो। तब इंद्र आदि देवता तथा वशिष्ठ आदि ऋषि ब्रह्मा की शरण में गए उनकी बात सुनकर ब्रह्मा जी ने कहा, देवताओं जो हुआ सो हुआ। अब वह निश्चय ही ठीक नहीं हो सकता। अतः उसके निवारण के लिए मैं तुम्हें एक उपाय बताता हूं। आदर पूर्वक सुनो, चंद्रमा देवताओं के साथ प्रभास नामक क्षेत्र में जाए और वहां मृत्युंजय मंत्र का विधि पूर्वक अनुष्ठान करते हुए भगवान शिव की आराधना करें। अपने सामने शिवलिंग की स्थापना करके वहां चंद्र देव नित्य तपस्या करें। इससे प्रसन्न होकर उन्हें रोग रहित कर देंगे। तब देवताओं तथा ऋषियों के कहने से ब्रह्माजी की आज्ञा के अनुसार चंद्रमा ने वहां 6 महीने तक निरंतर तपस्या की। मृत्युंजय मंत्र से भगवान का पूजन किया। 10 करोड मंत्र का जप और महामृत्युंजय मंत्र का ध्यान करते हुए चंद्रमा वहां स्थिर चित्त होकर लगातार खड़े रहे। उन्हें तपस्या करते देख भक्तवत्सल भगवान शंकर प्रसन्न हो उनके सामने प्रकट हो गए और चंद्रमा से बोले चंद्रदेव तुम्हारा कल्याण हो। तुम्हारे मन में जो अभीष्ट है वह वर मांगो, मैं प्रसन्न हूं, तुम्हें संपूर्ण उत्तम वर प्रदान करूंगा। चंद्रमा बोले देवेश्वर यदि आप प्रसन्न है तो मेरे लिए क्या असाध्य हो सकता है। शंकर आप मेरे शरीर के इस क्षय का निवारण कीजिए। शिव जी ने कहा, चंद्रदेव एक पक्ष में प्रतिदिन तुम्हारी कला छीन हो और दूसरे पक्ष में फिर वह निरंतर बढ़ती रहे। तदनंतर चंद्रमा ने भक्ति भाव से भगवान शंकर की स्तुति की। देवताओं पर प्रसन्न हो उस क्षेत्र के महत्व को बढ़ाने तथा चंद्रमा के यश का विस्तार करने के लिए भगवान शंकर उन्हीं के नाम पर वहां सोमेश्वर कहलाए और सोमनाथ के नाम से तीनों लोकों में विख्यात हुए। सोमनाथ का पूजन करने से उपासक के क्षय तथा कोढ़ आदि रोगों का नाश हो जाता है। वहीं संपूर्ण देवताओं ने सोंम कुंड की भी स्थापना की। जिसमें शिव और ब्रह्मा का सदा निवास माना जाता है।


छत्तीसगढ़ में मौसम ने बदली करवट, बारिश प्रारंभ

दुष्यंत टीकम             रायपुर। राजधानी रायपुर में मौसम ने करवट बदल ली है। शाम होते ही झमाझम बारिश शुरू हो चुकी है। बता दें कि प्रदेशभर में...