गुरुवार, 1 दिसंबर 2022

कलाकारों के समूह ने मकान को एक नया रूप दिया 

कलाकारों के समूह ने मकान को एक नया रूप दिया 

मिनाक्षी लोढी 

कोलकाता। कोलकाता के कालीघाट में स्थित 120 साल पुराने, जर्जर हो चुके एडवर्डकालीन एक मकान को कलाकारों के एक समूह ने अपनी कोशिश से एक नया रूप दे दिया है। कभी यह मकान कला का अद्भुत नमूना था जिसकी अर्ध वृत्ताकार बालकनी, हरे रंग से रंगी खिड़कियां, संगमरमर जड़े फर्श, लोहे की रेलिंग और कलाकृतियां शानदार हैं। भवन निर्माताओं द्वारा इसे धराशायी करने से पहले यह मकान कलाकारों के समूह के लिए अपनी कला को नए स्वरूप में प्रदर्शित करने का माध्यम बन गया है। कलाकारों ने जर्जर हो चुके ‘जगत निवास’ की दीवारों को भित्तिचित्रों और सीढ़ियों को ‘अल्पना’ (रंगोली) से सजाया है, अंग्रेजी और बांग्ला भाषा में संदेश लिखे हैं, प्रयोग के तौर पर रोशनी की व्यव्स्था की है। ताकि इन अंधेरे कमरों का इतिहास लोगों के सामने लाया जा सके।

इमारत के एक कमरे में जापानी शैली में स्याही और कूची से चित्रकारी की गई है जो इसका संबंध द्वितीय विश्वयुद्ध के योद्धा मेजर (डॉ) बी सी दीवानजी से बताती है। दीवानजी बर्मा (मौजूदा म्यांमा) से आए थे और इस इमारत के मूल मालिक थे। वहीं एक अन्य कमरे में साड़ी से साधारण झूला बनाया गया है जो इस इमारत में लोगों के हुए जन्मों को इंगित करता है।

यह इमारत कालीघाट स्थित मशहूर काली मंदिर परिसर से काफी नजदीक है। विश्व भारती विश्वविद्यालय के शांतिनिकेतन से प्रशिक्षित 46 वर्षीय कलाकार तौफिक रियाज ‘म्यूजियम ऑफ एयर ऐंड डस्ट’ से शुरू की गई इस परियोजना से जुड़े हैं। उन्होंने से कहा, ‘‘बड़ी संख्या में कलाकार, कवि, वास्तुशास्त्री, अभिनेता, बुद्धिजीवी और आसपास रहने वाले निवासी इस घर को जर्जर ढांचे से कला के केंद्र में तब्दील करने के काम से जुड़े हैं।’’

उन्होंने कहा कि मौजूदा समय में जो लोग रह रहे हैं उनमें बर्मा से करीब 60 साल पहले आए शरणार्थी भी हैं और रंगून (अब यंगून) से हृदयविदारक अवस्था में निकाले जाने की यादें उनके मनोमस्तिष्क में अब तक ताजा हैं। इन लोगों के लिए नेपाल भट्टाचार्य स्ट्रीट स्थित इस घर को छोड़ने की घड़ी नजदीक आ रही है। एक समय बंगाली फिल्मों में काम करने वाले शिवाजी दीवानजी ने कहा, ‘‘इस घर को लेकर हमारी कई यादें हैं, कितने विवाह और जन्म यहां हुए, दोस्ती और उत्सव हुए, इसे छोड़ना आसान नहीं है।

बराड़ की गिरफ्तारी हेतु सूचना, 2 करोड़ का इनाम

बराड़ की गिरफ्तारी हेतु सूचना, 2 करोड़ का इनाम

अमित शर्मा 

चंडीगढ़। पंजाबी गायक सिद्धू मूसेवाला के पिता बलकौर सिंह ने बृहस्पतिवार को केंद्र सरकार से मांग की कि उनके पुत्र की हत्या के षड्यंत्रकारी व कनाडा स्थित ‘गैंगस्टर’ गोल्डी बराड़ की गिरफ्तारी में मदद करने वाली कोई सूचना देने वाले को दो करोड़ रुपये का इनाम देने की घोषणा की जाए। सिंह ने कहा कि अगर सरकार इतनी बड़ी रकम देने में असमर्थ है, तो वह अपनी जेब से इनाम देने को तैयार हैं।

उन्होंने कहा, "मैं वादा करता हूं कि अगर वह (सरकार) इतनी राशि नहीं दे सकती है, तो मैं अपनी जेब से पैसे दूंगा, भले ही मुझे अपनी जमीन बेचनी पड़े।" सिंह ने अमृतसर में एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए ऑस्ट्रेलियाई पुलिस का एक उदाहरण दिया, जिसने चार साल पहले एक महिला की हत्या करने के बाद वहां से भाग गए भारतीय मूल के एक नागरिक की गिरफ्तारी के लिए 10 लाख ऑस्ट्रेलियाई डॉलर के इनाम की घोषणा की थी।

सिंह ने मांग की कि बराड़ को भारत लाया जाना चाहिए, ताकि वह अपने अपराधों के लिए यहां कानून का सामना कर सके। सिद्धू मूसेवाला के नाम से मशहूर शुभदीप सिंह सिद्धू की 29 मई को पंजाब के मानसा जिले में गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। लॉरेंस बिश्नोई गिरोह के सदस्य बराड़ ने हत्या की जिम्मेदारी ली थी।

नेताओं-बुजुर्गों के बारे में बोलते हैं, सुनने की हिम्मत रखें 

नेताओं-बुजुर्गों के बारे में बोलते हैं, सुनने की हिम्मत रखें 

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। कांग्रेस ने बृहस्पतिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर पलटवार करते हुए कहा कि जब वह उसके नेताओं एवं बुजुर्गों के बारे में बोलते हैं, तो सुनने की भी हिम्मत रखनी चाहिए। मुख्य विपक्षी दल ने आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री मोदी कांग्रेस संसदीय दल की प्रमुख सोनिया गांधी का कई बार अपमान कर चुके हैं और संसद के भीतर उन्होंने पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह का भी मजाक बनाया है।

प्रधानमंत्री मोदी ने कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे की ‘रावण’ वाली टिप्पणी का उल्लेख करते हुए बृहस्पतिवार को कहा कि प्रमुख विपक्षी दल के नेताओं के बीच उन्हें गाली देने की होड़ मची है। खरगे से पहले कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मधुसूदन मिस्त्री ने मोदी के खिलाफ ‘औकात’ बता देने संबंधी टिप्पणी की थी। प्रधानमंत्री के ताजा हमले को लेकर उन पर पलटवार करते हुए कांग्रेस महासचिव जयराम रमेश ने ट्वीट किया, ‘‘उसका क्या जब कई मौकों पर प्रधानमंत्री ने सोनिया गांधी जी का बहुत ही घिनौने शब्दों में अपमान किया तथा डॉक्टर मनमोहन सिंह का संसद के भीतर मजाक बनाया।’’ कांग्रेस के मीडिया एवं प्रचार प्रमुख पवन खेड़ा ने कहा, ‘‘हमारे नेताओं और बुजुर्गों के बारे में बोलते रहते हैं, तो सुनने की भी हिम्मत रखिए।

‘जर्सी गाय’, ‘कांग्रेस की विधवा’, ‘शूर्पणखा’ ‘बाथरूम में रेनकोट पहनकर नहाना’ जैसे शब्दों का इस्तेमाल प्रधानमंत्री ने खुद किया है।’’ उल्लेखनीय है कि खरगे ने गुजरात में सोमवार को एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए कहा था कि प्रधानमंत्री सभी चुनावों में लोगों से “उनका चेहरा देखकर वोट करने” के लिए कहते हैं। खरगे ने पूछा था, ‘‘क्या आप रावण की तरह 100 सिर वाले हैं।’’ खरगे की टिप्पणी को भाजपा ने गुजरात के लोगों का अपमान करार दिया है।

अभिनेत्री नोरा ने उल्टा 'तिंरगा' लहराया, नारे लगाए 

अभिनेत्री नोरा ने उल्टा 'तिंरगा' लहराया, नारे लगाए 

कविता गर्ग 

मुंबई। फेमस नोरा फतेही अपने धमाकेदार डांस और ग्लैमरस लुक्स की वजह से देश ही नहीं दुनिया में भी चर्चित हैं। नोरा की इसी पॉपुलैरिटी की वजह से उन्हें कतर में हो रहे फीफा वर्ल्ड कप  2022 में परफॉर्म करने का मौका मिला। फीफा वर्ल्ड कप 2022 के फैन फेस्टिवल में नोरा ने जबरदस्त डांस किया। नोरा ने स्टेज पर भारत का तिरंगा लहराते हुए जय हिंद के नारे भी लगाए। मगर इस दौरान उनसे भारी चूक हो गई, जिसकी वजह से नोरा काफी ट्रोल हो रही हैं। 

फीफा वर्ल्ड कप 2022 में  परफॉर्म करती हुए नोरा की एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें वह  कहती हैं- इंडिया चाहे फीफा वर्ल्ड कप में नहीं है, लेकिन हम इस फेस्ट का हिस्सा हैं। वो भी हमारे म्यूजिक और डांस से। नोरा की ये बातें सुनकर वहां मौजूद लोग एक्साइटेड हो जाते हैं। वे हूटिंग करने लगते हैं। नोरा के साथ ऑडियंस भी जय हिंद के नारे लगाती है। स्टेडियम में इंडिया- इंडिया के नारे लगने लगते हैं। इस बीच नोरा भारत का तिरंगा लहराने लगती हैं। जिसका वीडियो सोशल मीडिया पर छाया हुआ है। मगर नोरा जोश- जोश में होश गंवा बैठीं। वह तिरंगा उल्टा फहरा बैठीं।

उल्टा लहराया तिरंगा, ट्रोल हुईं नोरा फतेही 

वीडियो को देख  नोरा पर तिरंगे को गलत तरीके से पकड़ने, लहराने और इसका अपमान करने का आरोप लग रहा है। सबसे पहले तो नोरा को स्टेज पर फेंककर तिरंगा दिया गया। हद तो तब हुई जब नोरा ने तिरंगे को उल्टा लहराया। दुपट्टे की तरह उसे लहराया और खुद पर लपेटा।

स्टेज पर गिरे झंड़े को नोरा उठाकर लहराती दिखीं जैसे वो देश का तिरंगा नहीं कोई दुपट्टा हो। नोरा ने जिस तरह स्टेज से तिरंगे को नीचे खड़े शख्स को लौटाया, उसकी भी आलोचना हो रही है। नोरा फतेही का तिरंगा गलत पकड़ना, उल्टा लहराना विवादों में आ गया है। यूजर्स नोरा को ट्रोल कर रहे हैं।

शख्स ने लिखा कि तिरंगे को गलत पकड़ा है। यूजर ने लिखा कि नोरा तिरंगे की इज्जत नहीं करतीं। नोरा ने तिरंगे का अपमान किया। तो वहीं दूसरे यूजर ने लिखा कि तिरंगे को देने का तरीका बहुत गलत था। ये तिरंगे का अपमान करने जैसा था।

'बिजली' की खपत नवंबर में 112.81 अरब यूनिट रही

'बिजली' की खपत नवंबर में 112.81 अरब यूनिट रही

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। देश में बिजली की खपत नवंबर 2022 में सालाना आधार पर 13.6 प्रतिशत बढ़कर 112.81 अरब यूनिट रही। सरकारी आंकड़ों में यह जानकारी दी गई। पिछले महीने बिजली की खपत बढ़ने से आमतौर पर आर्थिक गतिविधियों में वृद्धि का संकेत मिलता है, क्योंकि अन्य महीनों के मुकाबले इस महीने में बिजली की खपत कम रहती है।

विशेषज्ञों का कहना है कि आने वाले महीनों में बिजली की खपत और मांग में वृद्धि होगी। उत्तर भारत में गर्मी पैदा करने वाले उपकरणों के अधिक इस्तेमाल और नयी रबी फसल की शुरुआत के कारण आर्थिक गतिविधियों में सुधार के चलते ऐसा होगा। किसान नयी फसलों की सिंचाई के लिए ट्यूबवेल चलाने के लिए बिजली का इस्तेमाल करते हैं। 

आंकड़ों के मुताबिक पिछले साल नवंबर में बिजली की खपत 99.32 अरब यूनिट थी, जबकि नवंबर 2020 में यह आंकड़ा 96.88 अरब इकाई से अधिक था। बीते महीने किसी एक दिन में बिजली की अधिकतम मांग बढ़कर 186.89 गीगावाट हो गई। यह आंकड़ा नवंबर 2021 में 166.10 गीगावाट और नवंबर 2020 में 160.77 गीगावाट था।

50 किलोमीटर से अधिक लंबा 'पीएम' का रोड शो

50 किलोमीटर से अधिक लंबा 'पीएम' का रोड शो

अकांशु उपाध्याय/इकबाल अंसारी 

नई दिल्ली/अहमदाबाद। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का अहमदाबाद शहर में 50 किलोमीटर से अधिक लंबा ‘रोड शो’ बृहस्पतिवार शाम नरोदा गांव से शुरू हुआ। शाम लगभग पांच बजकर 20 मिनट पर शुरू हुए ‘रोड शो’ के दौरान मार्ग के दोनों ओर बड़ी संख्या में लोगों ने फूल बरसाकर प्रधानमंत्री मोदी का स्वागत किया।

विशेष रूप से डिजाइन किए गए वाहन पर खड़े होकर प्रधानमंत्री ने भीड़ की ओर हाथ हिलाकर उनका अभिवादन किया। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने एक विज्ञप्ति में बताया कि ‘रोड शो’ अहमदाबाद के पूर्वी हिस्से से होकर गुजरेगा और शहर के पश्चिमी हिस्से में चांदखेड़ा क्षेत्र में आईओसी सर्कल पर समाप्त होगा।

विज्ञप्ति के अनुसार, ‘रोड शो’ हीरावाडी, हाटकेश्वर, मणिनगर, दनिलिम्दा, जीवराज पार्क, घाटलोदिया, नारनपुरा और साबरमती सहित शहर के विभिन्न हिस्सों से होकर गुजरेगा। इसके अनुसार, इसमें अहमदाबाद शहर के साथ-साथ गांधीनगर-दक्षिण की 13 विधानसभा सीट को शामिल किया जाएगा। गुजरात विधानसभा चुनाव के पहले चरण में बृहस्पतिवार को 89 सीट के लिए मतदान हुआ और दूसरे चरण में शेष 93 सीट के लिए मतदान होगा।

किसी भी जांच का सामना करने के लिए तैयार 'पार्टी'

किसी भी जांच का सामना करने के लिए तैयार 'पार्टी'

इकबाल अंसारी 

हैदराबाद। तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) की विधान परिषद सदस्य के. कविता ने बृहस्पतिवार को कहा कि प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) तथा केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) जैसी केंद्रीय एजेंसियों के निशाने पर आई वह और उनकी पार्टी के नेता किसी भी जांच का सामना करने के लिए तैयार हैं। वह उन खबरों पर प्रतिक्रिया दे रही थीं, जिनमें कहा गया है ईडी ने दिल्ली शराब घोटाला मामले के आरोपियों में से एक अमित अरोड़ा की रिमांड रिपोर्ट में उनके नाम का उल्लेख किया गया है। कविता ने कहा, ‘‘हम किसी भी तरह की जांच का सामना करेंगे। अगर एजेंसियां आती हैं और हमसे सवाल करती हैं तो हम निश्चित तौर पर जवाब देंगे।

लेकिन मीडिया को चुनिंदा सूचनाएं लीक करके नेताओं की छवि बिगाड़ना... लोग इसे खारिज कर देंगे।’’ उन्होंने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) पर लोकतांत्रिक रूप से निर्वाचित आठ राज्य सरकारों को अपदस्थ करने तथा पिछले दरवाजे की राजनीति से सत्ता छीनने का आरोप लगाया। कविता ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को उन्हें तथा अन्य नेताओं को किसी भी गलत काम का दोषी साबित कर जेल में रखने की चुनौती दी। उन्होंने कहा, "मैं मोदी से अनुरोध करती हूं कि इस रवैये को बदलें। ईडी और सीबीआई का इस्तेमाल कर चुनाव जीतना संभव नहीं है। तेलंगाना के लोगों के साथ यह बहुत मुश्किल है, जो चतुर हैं।" कविता ने कहा, ‘‘अगर आप कहते हैं कि आप हमें जेल में रखेंगे, तो यह करें। क्या होगा? डरने की कोई बात नहीं है। क्या आप हमें फांसी देंगे? ज्यादा से ज्यादा आप हमें जेल में रखेंगे। बस इतना ही।"

उन्होंने कहा कि चुनाव वाले राज्यों में ईडी और सीबीआई जैसी एजेंसियों को भेजने का नियमित चलन बन गया है। तेलंगाना में अगले साल नवंबर या दिसंबर में विधानसभा चुनाव होगा। कविता ने कहा, ‘‘चुनावी राज्यों में मोदी के पहुंचने से पहले ईडी पहुंच जाती है।’’ टीआरएस पार्टी के कार्यकर्ता एकजुटता व्यक्त करते हुए बड़ी संख्या में उनके आवास पर एकत्रित हो गए।

उन्होंने कहा कि जब तक टीआरएस लोगों के कल्याण के लिए काम करेगी, तब तक कुछ नहीं होगा। ईडी ने कहा, ‘‘अब तक की गई जांच के अनुसार, विजय नायर ने आप के नेताओं की ओर से साउथ ग्रुप (सरथ रेड्डी, के. कविता, मगुंटा श्रीनिवासुलु रेड्डी द्वारा नियंत्रित) नामक एक समूह से अमित अरोड़ा सहित विभिन्न व्यक्तियों के जरिए कम से कम 100 करोड़ रुपये की घूस प्राप्त की है।’’

एजेंसी ने कहा कि यह ‘‘खुलासा’’ अमित अरोड़ा ने अपना बयान दर्ज कराने के दौरान किया। अधिकारियों ने कविता की पहचान विधान परिषद सदस्य एवं तेलंगाना के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव की पुत्री के रूप में की। बाद में, एक ट्वीट में कविता ने कहा कि राव द्वारा भारत राष्ट्र समिति (बीआरएस) का गठन किए जाने से भाजपा बेचैन हो गई है, लेकिन टीआरएस कैडर के लिए नफरत और उन्हें डराने-धमकाने से काम नहीं चलेगा।

महिला ने किया सवाल, केजरीवाल का करारा जवाब

महिला ने किया सवाल, केजरीवाल का करारा जवाब

अकांशु उपाध्याय 

ई दिल्ली। दिल्ली में चुनाव को लेकर आम आदमी पार्टी (AAP) के संयोजक और दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल प्रचार में जुटे हैं। इस दौरान एक महिला ने केजरीवाल से सवाल किया कि आपने मफलर क्यों नहीं पहनाइसके जवाब में केजरीवाल ने कहा- अभी ठंड नहीं आई है।

दरअसलकेजरीवाल अपने प्रत्याशियों के सर्मथन में लोगों से मुलाकात कर रहे थे। इस दौरान दिल्ली की जनता भी केजरीवाल के साथ सेल्फी लेने में जुटी थी। तभी केजरीवाल उस महिला के पास पहुंचते हैंजिसने उनसे मफलर न पहनने को लेकर सवाल किया। महिला के इस सवाल पर केजरीवाल भी हंसी नहीं रोक पाए और कहा कि अभी इतनी भी सर्दी नहीं आई है कि मफलर पहनूं।

दिल्ली नगर निगम चुनाव के लिए दिसंबर को मतदान होना है। दिसंबर को वोटों की गिनती होगी और रिजल्ट आएगा। पहले ये चुनाव अप्रैल में होने थेलेकिन तीनों निगमों के एकीकरण के फैसले के चलते चुनाव में देरी हुई। एमसीडी चुनाव के लिए नामांकन दाखिल करने की आखिरी तारीख 14 नवंबर थी।

सरकार की लूट जारी, एक रुपया भी कम नहीं

सरकार की लूट जारी, एक रुपया भी कम नहीं

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। कांग्रेस ने बृहस्पतिवार को आरोप लगाया कि अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमत पिछले 10 महीनों के सबसे निचले स्तर पर है, लेकिन भारतीय जनता पार्टी के नेतृत्व वाली सरकार की ‘लूट’ जारी है। मुख्य विपक्षी दल ने यह भी कहा कि कच्चे तेल के दाम में आई गिरावट को देखते हुए देश में पेट्रोल एवं डीजल की कीमत 10 रुपये प्रति लीटर घट सकती है, लेकिन केंद्र सरकार ने एक रुपया भी कम नहीं किया।

पार्टी अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे ने ट्वीट किया, ‘‘16 मई, 2014 को कच्चे तेल की कीमत 107.09 डॉलर प्रति बैरल थी। उस समय दिल्ली में पेट्रोल का दाम 71.51 रुपये और डीजल का दाम 57.28 रुपये प्रति लीटर था।’’ उन्होंने कहा, ‘‘एक दिसंबर, 2022 को कच्चे तेल की कीमत 87.55 डॉलर प्रति बैरल थी। आज दिल्ली में पेट्रोल का दाम 96.72 रुपये प्रति लीटर और डीजल का दाम 89.62 रुपये प्रति लीटर है।’ ’खरगे ने आरोप लगाया, ‘‘कच्चे तेल की कीमत 10 महीने के सबसे निचले स्तर पर है, लेकिन भाजपा की लूट ऊंची बनी हुई है।’’ कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने आरोप लगाया कि भारत की जनता महंगाई से त्रस्त है, जबकि प्रधानमंत्री अपनी वसूली में मस्त हैं।

राहुल गांधी ने ट्वीट किया, ‘‘पिछले 6 महीनों में कच्चा तेल 25 प्रतिशत से ज़्यादा सस्ता हो गया है। देश में पेट्रोल-डीज़ल के दाम 10 रुपये से ज़्यादा घटाए जा सकते हैं, लेकिन सरकार ने एक रुपया भी कम नहीं किया। भारत की जनता महंगाई से त्रस्त है, जबकि प्रधानमंत्री अपनी वसूली में मस्त हैं।’’ उल्लेखनीय है कि दिल्ली में वर्तमान में पेट्रोल की कीमत 96.72 रुपये प्रति लीटर और डीजल का दाम 89.62 रुपये प्रति लीटर है।

ऐसी 'मछली' रानी, जिसकी नहीं सुनी कहानी

ऐसी 'मछली' रानी, जिसकी नहीं सुनी कहानी

सरस्वती उपाध्याय 

मछली को हम सबने अभी तक पानी में हीं देखा होगा। पानी से बाहर निकलते ही वह बेसुध हो जाती है और ज्यादा देर तक जीवित नहीं रह पाती। मछली पानी में ही सांस ले पाती है, लेकिन इस बीच एक अजीबोगरीब वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायर हो रहा है। वीडियो में एक विचित्र मछली को पानी से बाहर निकलकर बर्फ की चादर पर सुस्ताते हुए देखा जा रहा है। इस वीडियो को देख लोग हैरान हैं और विश्वास नहीं कर पा रहे हैं।

वायरल वीडियो में देखा जा सकता है कि एक अलग तरह की मछलीबर्फ बार बैठी हुई है। उसके चारों तरफ बर्फ की चादर दिखाई दे रही है और कहीं-कहीं पानी भी नजर आ रहा है। मछलीबिना पानी के जीवित देख किसी के भी होश उड़ जाएंगे।

वीडियो पर नहीं हुआ किसी को विश्वास
वीडियो में दिख रही मछली बड़ी कॉमन सी दिख रही है और फिर भी ये किसी सामान्य मछली की भांति बिना पानी के तड़प नहीं रही है। ये नजारा जिसने देखा वो दंग रह गया है। इस वीडियो को देख कई लोगों ने कमेंट कर अपनी अलग अलग प्रतिक्रिया भी दी है। एक यूजर ने लिखा है कि ये मछली पानी से बाहर नहीं खड़ी है। बल्कि ये ऑप्टिकल इल्यूजन है। एक अन्य ने कहा कि सिर्फ वायरल करने के लिए मछली का ऐसा वीडियो बनाया गया हैजो असली नहीं है।"

48,500 साल पुराना 'जोंबी' वायरस जिंदा मिला

48,500 साल पुराना 'जोंबी' वायरस जिंदा मिला

अखिलेश पांडेय 

पेरिस। जलवायु परिवर्तन लंबे समय से मानव जीवन के हर पहलू के लिए खतरा बन चुका है। ये एक ऐसी चुनौती है कि अगर इस पर गौर नहीं किया गया तो मानव जीवन पर संकट आ सकता है, और अब खतरे की घंटी बज चुकी है। साइबेरिया में पिघलती बर्फ ने बड़ा खतरा पैदा कर दिया है। ऐसा फ्रांसीसी शोधकर्ताओं ने दावा किया है। दरअसल, फ्रांस के वैज्ञानिकों ने रूस में जमी हुई झील के नीचे दबे 48,500 साल पुराने जोंबी वायरस को जिंदा करने का दावा किया है, और अब इससे होने वाली महामारी की आशंका भी जताई है। इस शोध के बाद से वैज्ञानिकों के रातों की नींद उड़ी हुई है।

बर्फ में दबे 13 नए खतरनाक रोगाणु निकले

अब तक के मिली जानकारी के मुताबिक साइबेरिया क्षेत्रों में परमाफ्रॉस्ट के नीचे से एकत्रित नमूनों की जांच की, उन्होंने इसमें से 13 नए रोगाणुओं को ढूंढ निकाला है। वैज्ञानिकों ने इसे जोंबी वायरस का नाम दिया है। उन्होंने बताया कि बर्फीली जमीन में कई हजार सालों तक रहने के बावजूद वो संक्रामक बन रहे हैं। इस प्राचीन अज्ञात वायरस के जिंदा होने के कारण पौधे पशु और मानव के मामले में स्थिति बहुत ज्यादा खराब हो सकती है। अध्ययन में सामने आए 13 वायरसो से खतरा है.इन सभी वायरस का अपना जीनोम है।

सबसे पुराने जोंबी वायरस का नाम पैंडोरावायरस येडोमा दिया गया

रिपोर्ट के मुताबिक यूरोपीय शोधकर्ताओं को रूस के साइबेरिया में शोध आधारित खोजबीन के दौरान इन वायरसों का पता चला है, उन्होंने इस विषाणु को विशेष उद्देश्य के लिए पुनर्जीवित कर इन्हें तेरा अलग-अलग रोगाणु श्रेणियों में बांटा है। सभी को जोंबी वायरस नाम दिया गया है। ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट के मुताबिक शोधकर्ताओं ने बताया कि यह वायरस सालों से बर्फ में जमे पड़े थे, इसके बावजूद इन में संक्रमण फैलाने की क्षमता बरकरार है। इन वायरसों में से सबसे पुराने जोंबी वायरस को पैंडोरावायरस येडोमा नाम दिया गया है। रोगाणु प्रजाति के इस प्राचीन सदस्य ने उम्र के मामले में और एक अन्य खतरनाक रोगाणु का भी रिकॉर्ड तोड़ दिया है। साल 2013 में मिले उस वायरस की उम्र 30 हजार साल बताई गई थी। लेकिन पैंडोरावायरस येडोमा उससे 18 हजार 500 साल से भी ज्यादा बड़ा है।

बढ़ सकता है कोरोना वायरस का खतरा

वैज्ञानिकों के मुताबिक सभी जोंबी वायरस के अधिक संक्रामक होने की क्षमता है, इसलिए यह लोगों के स्वास्थ्य के लिए खतरनाक हो सकता है। वैज्ञानिकों का यह भी मानना है कि भविष्य में कोरोना वायरस महामारी अधिक आम हो जाएगी। क्योंकि परमाफ्रॉस्ट पिघलने से माइक्रोबियल कैप्टन अमेरिका जैसे लंबे समय तक निष्क्रिय रहने वाले वायरस निकलते हैं।

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन



प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण


1. अंक-51, (वर्ष-06)

2. शुक्रवार, दिसंबर 02, 2022

3. शक-1944, मार्गशीर्ष, शुक्ल-पक्ष, तिथि-नवमी, विक्रमी सवंत-2079‌‌।

4. सूर्योदय प्रातः 06:44, सूर्यास्त: 05:24। 

5. न्‍यूनतम तापमान- 11 डी.सै., अधिकतम- 22+ डी.सै.।

6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है। 

7.स्वामी, मुद्रक, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम व शिवांशु, (विशेष संपादक) श्रीराम व सरस्वती (सहायक संपादक) संरक्षण-अखिलेश पांडेय, ओमवीर सिंह, वीरसैन पवार, योगेश चौधरी आदि के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी।

8. संपर्क व व्यवसायिक कार्यालय- चैंबर नं. 27, प्रथम तल, रामेश्वर पार्क, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102। 

9. पंजीकृत कार्यालयः 263, सरस्वती विहार लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102

http://www.universalexpress.page/ www.universalexpress.in 

email:universalexpress.editor@gmail.com 

संपर्क सूत्र :- +919350302745--केवल व्हाट्सएप पर संपर्क करें, 9718339011 फोन करें।

(सर्वाधिकार सुरक्षित)

गणतंत्र दिवस    'संपादकीय'

गणतंत्र दिवस    'संपादकीय' 'भारत' देश है हमारा, संविधान पर विवाद नहीं। 'सभ्यता' सबसे पहले आई, ...