सोमवार, 27 जनवरी 2020

आरएसएस एक 'खतरनाक आतंकी संगठन'

नई दिल्ली। संविधान निर्माता डॉ. बीआर अंबेडकर के परपोते राजरत्न अंबेडकर ने कोलकाता में आरएसएस पर ऐसा बयान दिया है जो राजनीतिक माहौल को गर्माने के साथ नए विवाद को जन्म देगा। दरअसल डा. अंबेडकर के परपोते राजरत्न अंबेडकर ने आरएसएस को लेकर विवादित बयान दिया है। राजरत्न अंबेडकर ने कहा कि, मैंने हमेशा कहा है कि आरएसएस भारत का एक खतरनाक आतंकवादी संगठन है, इस पर तुरंत पाबंदी लगाई जानी चाहिए वर्ना ये देश को बहुत नुकसान पहुंचाएगा। इस संगठन के लोगों के पास हथियार और गोला बारूद हैं। मैं पूछना चाहता हूं वो सब कहां से आए। अंबेडकर के परपोते ने कोलकाता में आयोजित सरकार विरोधी रैली में भाजपा और आरएसएस पर खूब हमले किये और कई विवादित बयान भी दिये। जिसके बाद माना जा रहा है आगे और भी तल्ख बयानबाजी भाजपा समर्थकों की तरफ से की जाएगी। वैसे अंबेडकर के परपोते ने भाजपा, आरएसएस के साथ मोदी और साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को भी लपेटा।


विधायक की समिति में बेइज्जती का प्रयास

राणा ओबराय

जींद विधायक कृष्ण मिड्डा की जिला कष्ट निवारण समिति की बैठक में बेइज्जती करने का प्रयास?

जींद। जिला कष्ट निवारण समिति जींद की बैठक चेयरमैन एवं राज्यमंत्री अनूप धानक की अध्यक्षता में हो रही थी। जींद के विधायक डॉ कृष्ण मिड्डा जब मीटिंग मंच पर पहुचे तो उनके बैठने के लिए चेयर भी मौजूद नही थी। जिससे नाराज होकर विधायक मीटिंग से बाहर चले गए। उनके जाने के बाद बीजेपी कार्यकर्ताओं ने मंत्री पर विधायक की बेइज्जती करने का आरोप लगाया। मंत्री अनूप धानक ने कार्यकर्ताओं से कहा बात को मत बढ़ाओ मैं खुद विधायक को लेकर आता हूं।


मुंह चिढ़ाती, गड्ढा-मुक्त सड़क, अभियान

गड्ढा मुक्त अभियान सड़क योजना का मुंह चिढ़ाता


योगी सरकार का दावा हुआ फेल!सड़क में गड्ढा य गड्ढे में सड़क कहना मुश्किल।


कौशाम्बी। नगर पंचायत अझुवा के वार्ड नं 6 में निर्मित सड़क जो धुमाई,सांखा बरीपुर, धुमाई आदि को जोड़ने वाली अति व्यस्ततम मार्ग है। इतनी जर्जर है। कि चार पहिया तो छोड़िए साइकिल से गुजरना मुश्किल है। वैसे शायरी माता तिराहे से रमेश कोटेदार के घर तक सड़क है। लेकिन सड़क कैसी है इस पे गुजर कर देखा जा सकता है। ये सड़क जिम्मेदारों की उदासीनता और लापरवाही से पड़ी हुई है। आज नगर पंचायत वार्ड नं 6 के स्थानीय निवासियों राम सिंह पुरुषोत्तम मौर्य सहित  कई लोगों  ने  सड़क निर्माण और घरों ,नल निकलने वाले पानी जो बराबर सड़क में बहता रहता है के निस्तारण हेतु नगर पंचायत के अधिशाषी अधिकारी को लिखित शिकायत देते हुए समस्या के समाधान के लिए अपील किया है।


सन्तलाल मौर्य


राव तुलाराम स्टेडियम में गणतंत्र-दिवस

राजेश शर्मा


रेवाड़ी। रविवार को पूरे देश में 71 वे गणतंत्र दिवस पर्व की धूम है। 26 जनवरी को हर्षोल्लास के साथ मनाने के लिए देश भर में समारोह का आयोजन किया जा रहा है। इसी कड़ी में रेवाड़ी में 26 जनवरी के उपलक्ष्य में राव तुलाराम स्टेडियम में गणतंत्र दिवस समारोह पर कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता राज्यमंत्री ओमप्रकाश यादव ने बतौर मुख्य अतिथि शिरकत की. राज्यमंत्री ओमप्रकाश यादव ने ध्वजारोहण किया। राज्यमंत्री ने मार्च पास्ट की टुकड़ी का निरीक्षण कर परेड की सलामी ली. इस अवसर पर विभिन्न सरकारी और निजी स्कूलो के विद्यार्थियों द्वारा पिटी डंबल, सूर्य नमस्कार के साथ साँस्कृतिक और देशभक्ति से ओत प्रोत कार्यक्रम प्रस्तुत कर समा बाँध दिया. मुख्यातिथि ने अपने संबोधन में कहा कि हरियाणा वीरों की भूमि है। आजादी के महान सेनानियों और वीर सपूतों को हम सब मिलकर नमन करते हैं। जिनकी बदौलत आज हम खुली हवा में सास ले रहे हैं। इस अवसर पर उन्होंने केंद्र और प्रदेश सरकार की उपलब्धियों को बखान गिनाया और कहा कि सरकार देश हित में अच्छे काम कर रही है। इस अवसर पर युद्ध वीरांगनाओं और शहीदों के आश्रितों को सम्मानित किया गया। विभिन्न विभागों द्वारा सुंदर सुंदर झांकियां निकाली गई।


बजट में शिवपुरी, भोपाल, खजुराहो, इलाहाबाद

भोपाल। नए रेल बजट में शिवपुरी, इटावा, भोपाल, खजुराहो इलाहाबाद के लिए ट्रेनों की संख्या बढ़ने की उम्मीद है। खजुराहो से कुरुक्षेत्र के बीच 27 अप्रैल से ट्रेन चलाने की घोषणा हाल में हो चुकी है। जबकि गतिमान एक्सप्रेस को महोबा होकर खजुराहो तक चलाने का प्रस्ताव रेलवे बोर्ड के पास खजुराहो के सांसद बीडी शर्मा ने भेजा है। इस ट्रेन का स्टॉपेज बढ़ाने पर रेलवे बोर्ड विचार कर रहा है, क्योंकि दिल्ली से खजुराहो बड़ी संख्या में पर्यटक जाते हैं। हालांकि गतिमान की स्पीड झांसी-महोबा सेक्शन मे 100 किमी प्रतिघंटा तक ही रहेगी। वहीं इलाहाबाद से मथुरा के बीच सप्ताह में दो दिन चलने वाली वीरांगना एक्सप्रेस को नियमित किया जा सकता है। अभी यह ट्रेन विशेष ट्रेन के तौर पर 31 मार्च तक चलाई जानी है। यात्रियों का रिस्पांस अच्छा मिला है इसलिए यह ट्रेन नियमित हो सकती है, क्योंकि मथुरा से इलाहाबाद के लिए अभी कोई सीधी ट्रेन नहीं है। भिंड-इटावा ट्रैक पर 4 साल में सिर्फ 3 ट्रेनें चलीं, 11 घंटे ट्रैक सूना भिंड-इटावा ट्रैक पर इटावा तक 4 साल में केवल 3 ट्रेनें ही चलाईं जा सकी हैं। इस रूट पर 3 नई ट्रेनों का प्रस्ताव रेलवे बोर्ड के पास अटका हुआ है। इस रूट पर शाम 7:15 बजे से लेकर सुबह 6 बजे के बीच कोई ट्रेन नहीं है। इस तरह 11 घंटे इस ट्रैक पर सन्नाटा रहता है। दोपहर में भी 5 घंटे कोई ट्रेन इस ट्रैक से नहीं गुजरती। रेलवे बोर्ड के पास ग्वालियर से इटावा, कानपुर व लखनऊ तक ट्रेनें चलाने का प्रस्ताव अटका हुआ है। अभी दूरी बढ़ाकर आगरा रूट से ट्रेनें इटावा कानपुर के लिए चलाई जा रही हैं। ओखा एक्सप्रेस आगरा होते हुए इटावा से कानपुर, लखनऊ व गोरखपुर पहुंचती है।
शिवपुरी, इटावा भोपाल ट्रैक पर चलेंगी ये ट्रेनें : शिवपुरी के लिए सुबह 8:30 बजे से शाम 7:30 के बीच यानी 11 घंटे कोई ट्रेन नहीं है। इस कारण ग्वालियर से आगरा के बीच चलने वाली शटल का स्टॉपेज शिवपुरी तक बढ़ाया जाएगा। इस प्रस्ताव पर रेलवे बोर्ड ने सैद्धांतिक सहमति दे दी है। बजट में इसकी घोषणा हो सकती है।दरअसल, आगरा से ग्वालियर आने वाली शटल सुबह 10:30 के ग्वालियर आने के बाद ग्वालियर में खड़ी रहती है।शाम 6 बजे आगरा के लिए रवाना होती है। इसलिए यह ट्रेन शिवपुरी तक की 110 किमी की दूरी तय कर शाम को ग्वालियर लौट सकेगी। गुना-शिवपुरी ट्रैक पर इलेक्ट्रिक इंजन से चलेंगी ट्रेनें: शिवपुरी गुना ट्रैक को इलेक्ट्रिक किया जा रहा है। 6 माह के भीतर यह काम पूरा हो जाएगा। इसके बाद ट्रैक पर इलेक्ट्रिक इंजन से ट्रेनें चलेंगी। अभी इस रूट पर ग्वालियर-बीना पैसेंजर, ग्वालियर-गुना-भोपाल इंटरसिटी, ग्वालियर-इंदौर-रतलाम एक्सप्रेस, कोटा-इटावा एक्सप्रेस, नियमित ट्रेनें हैं। जबकि सप्ताह में दो दिन उज्जयिनी, देहरादून एक्सप्रेस, झांसी- ग्वालियर बांद्रा टर्मिनस जैसी ट्रेनें हैं।
ग्वालियर-भोपाल के बीच चलेगी इंटरसिटी: ग्वालियर से भोपाल के लिए करीब छह सवा घंटे कोई ट्रेन नहीं है। तड़के 3:43 बजे दक्षिण एक्सप्रेस आती है। इसके बाद सुबह 10:30 बजे पंजाब मेल है। इससे पहले शताब्दी एक्सप्रेस सुबह 9:15 बजे है, लेकिन इसका किराया अधिक होने से आर्थिक रूप से कमजोर यात्री सफर नहीं करते। सांसद शेजवलकर ने ग्वालियर से भोपाल के बीच सुबह इंटरसिटी चलाने की मांग की थी। ये ट्रेन शाम को भोपाल से चलेगी रात में ग्वालियर आएगी। इसके लिए बोर्ड ने मंजूरी भी दे दी है।


कानून की धज्जियां उड़ाते बाइक सवार

अतुल त्यागी जिला प्रभारी, प्रवीण कुमार रिपोर्टर, पिलखुआ रिंकू सैनी रिपोर्टर   


सर्विस रोड पर -एक बाइक पर तीन सवारियां सवार- बिना हेलमेट- कानून की उड़ाते धज्जियां -वाह रे…..


हापुड़। सर्विस  रोड पर – एक बाइक पर 3 सवारियां सवार- बिना हेलमेट-कानून की उड़ाते धज्जियां –  वाह रे प्रशासन तेरे क्या कहने- आखिर क्यो हापुड़ के थाना गढ़मुक्तेश्वर क्षेत्र के अंदर एक बाइक पर तीन सवारियां सभा मगर बिना हेलमेट खुलेआम कानून का उल्लंघन होते हुए- चलाए जा रहे हैं खूब यातयात की तरफ से अब अभियान, उसके बावजूद भी नहीं है किसी पर कोई असर, दे रहे हैं खुलेआम मौत को बुलावा, आखिर पुलिस प्रशासन क्यों नहीं करता ऐसे व्यक्तियों पर कार्यवाही, दिन-रात चलाए जा रहे हैं अभियान, जिंदगी है एक अनमोल रतन ,मगर इन पर नहीं है कोई फर्क, बाइक की स्पीड की कोई लिमिट नहीं, आखिर कब सुधरेंगे हमारे देश के व्यक्ति जो खुलेआम दे रहे हैं अपनी जिंदगी को धोखा तेज रफ्तार बाइक पर तीन सवार होकर दिन हेलमेट आखिर क्यों अब देखना यह होगा कि यातयात महकमा ऐसे व्यक्तियों के खिलाफ कब चलाएगा ध्यान ताकि इनकी जिंदगी के अंदर ना आए कोई  भूचाल आखिर कब।


गोवध का वंचित किया गिरफ्तार, सफलता

अतुल त्यागी जिला प्रभारी 


थाना बाबूगढ़ पुलिस को मिली बड़ी सफलता  


हापुड़। क्षेत्र में गोवध की वारदातें दिन-ब-दिन बढ़ती जा रही थी। जिसको देखते हुए स्थानीय पुलिस के द्वारा मामले को गंभीरता से लिया गया। गोवध अधिनियम मे फरार चल रहे नितिन कुमार पुत्र वीर सिंह को बाबूगढ़ पुलिस ने उपेड़ा पुल के पास से किया गिरफ्तार। थाना प्रभारी बाबूगढ़ उत्तम सिंह राठौड़ ने बताया काफी दिनों से मोटा उर्फ नितिन चल रहा था फरार।


गौरव हत्याकांड में हत्यारोपी गिरफ्तार

अतुल त्यागी जिला प्रभारी, प्रवीण कुमार रिपोर्टर


 महिला समेत आशु गैंग का हत्यारोपी गिरफ्तार
हापुड़। नोएडा पुलिस और हापुड़ पुलिस के संयुक्त ऑपरेशन में आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है। गौरव चंदेल की 7 जनवरी को उनके घर के पास लूट के बाद हत्या कर दी गई थी। इस हत्याकांड में पुलिस की भारी लापरवाही सामने आई जिसके बाद यूपी सरकार ने कई अधिकारियों को सस्पेंड कर दिया। गौरव चंदेल केस में बड़ी कामयाबी, महिला समेत आशु गैंग का हत्यारोपी गिरफ्तार गौरव चंदेल की 7 जनवरी को उनके घर के पास ही लूट के बाद हत्या कर दी गई थी। (फाइल फोटो) नोएडा और हापुड़ पुलिस की संयुक्त कार्रवाईकुछ दिन पहले गाजियाबाद से बरामद हुई कार ग्रेटर नोएडा में गौरव चंदेल हत्याकांड में पुलिस को बड़ी कामयाबी हाथ लगी है। नोएडा पुलिस और हापुड़ पुलिस के संयुक्त ऑपरेशन में दो आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है. एक आरोपी का नाम उमेश है जिसे हापुड़ के धौलाना से गिरफ्तार किया गया है। एक महिला भी गिरफ्तार हुई है। ये दोनों आशु गैंग के बदमाश हैं। आशु गैंग कारजैकिंग, लूट, फिरौती, हत्या की वारदातों को अंजाम देता है. गिरफ्तार दोनों आरोपियों से पूछताछ जारी है। फिलहाल नोएडा पुलिस हापुड़ में मौजूद है और वहीं पूछताछ की जा रही है। बता दें, ग्रेटर नोएडा वेस्ट निवासी और एक निजी कंपनी में क्षेत्रीय प्रबंधक गौरव चंदेल की 7 जनवरी को उनके घर के पास ही लूट के बाद हत्या कर दी गई थी। शक है कि हत्यारे कारजैकर्स (कार लूटने वाले) गिरोह के सदस्य थे, जिन्होंने पुलिस के वेश में रात में परथला चौक के पास गौरव को रोका था। गौरव गुरुग्राम के उद्योग विहार स्थित अपने ऑफिस से गौर सिटी स्थित घर लौट रहे थे। अभी कुछ दिन पहले गाजियाबाद की मसूरी पुलिस ने आकाश नगर कालोनी से गौरव चंदेल की कार लावारिस हालत में खड़ी बरामद की थी. बरामदगी के वक्त कार का दरवाजा लॉक था। कार के बाद पुलिस ने मोबाइल भी किया बरामद, मिर्ची गैंग पर शक हफ्ते भर पहले गाजियाबाद के चिराग अग्रवाल की कार को पुलिस ने बरामद किया था। यह कार उसी जगह से लावारिस हालत में बरामद की गई, जहां से ग्रेटर नोएडा के गौरव चंदेल की कार मिली थी। पुलिस ने आशंका जताई है कि गौरव चंदेल के कातिलों के तार गाजियाबाद से जुड़े हो सकते हैं।गाजियाबाद पुलिस ने मसूरी थाना क्षेत्र में आकाश नगर इलाके में गौरव चंदेल की कार से करीब 1 किलोमीटर दूरी पर चिराग अग्रवाल की टियागो कार को बरामद किया। कार की नंबर प्लेट बदली गई थी, लेकिन कार पर लगे स्टिकर पर कार का सही नंबर लिखा हुआ मिला। दफ्तर से लौटते वक्त रात में रहस्यमय हालात में गौरव चंदेल कार के साथ गायब हो गए थे। बाद में उनका शव परिजनों ने ढूंढा था। पुलिस ने रात में कोई कार्रवाई करने से मना कर दिया था और लोगों को थाने से बैरंग वापस भेज दिया था।इसके बाद गौरव के घर वालों ने ही उनका शव बरामद किया था। हत्यारे गौरव के शव को मौके पर ही फेंक गए थे। जबकि गौरव की एकदम नई कीमती कार हत्यारे अपने साथ ले गए। बाद में मेरठ मंडल की आयुक्त अनिता सी मेश्राम और मेरठ रेंज के पुलिस महानिरीक्षक आलोक सिंह (अब गौतमबुद्ध नगर के पुलिस आयुक्त) ने बिसरख के कोतवाल सहित तीन-चार दारोगा और चौकी इंचार्ज सस्पेंड कर दिए। जबकि जांच कोतवाली बिसरख पुलिस से छीनकर एसटीएफ के हवाले कर दी गई थी।


अंबाला बस स्टैंड का बदला जाएगा नाम

अंबाला बस स्टैंड का बदला जाएगा नाम, सुषमा स्वराज के नाम पर होगा


अमित शर्मा


अंबाला। हरियाणा की मनोहर सरकार ने अंबाला शहर के बस स्टैंड को लेकर नया फैसला किया है। बस स्टैंड का नामकरण पूर्व केंद्रीय मंत्री स्वर्गीय सुषमा स्वराज के नाम पर करने का निर्णय लिया है। हरियाणा के परिवहन मंत्री मूलचंद शर्मा ने बताया कि मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने इस आशय के एक प्रस्ताव को स्वीकृति प्रदान कर दी है। उन्होंने बताया कि अंबाला शहर विधानसभा क्षेत्र से विधायक असीम गोयल ने एक पत्र के माध्यम से इस बस अड्डा का नाम सुषमा स्वराज के नाम पर रखने का आग्रह किया है।


गणतंत्र दिवस पर की वॉलीबॉल प्रतियोगिता

कोंडागांव। आईटीबीपी ने गणतंत्र दिवस के अवसर पर बॉलीबाल प्रतियोगिता का आयोजन  किया। इसमें 16 गांव की टीमों ने भाग लिया। प्रतियोगिता में फाइनल मैच ग्राम खजरावड़ और आईटीबीपी के बीच हुआ। इसमें खजरावड़ की टीम विजेता रही। इनको मुख्यअतिथि आईटीबीपी के 29वाहिनी के कमांडेंट समरबहादुर सिंह ने पुरस्कृत किया। कमांडेंट समरबहादुर सिंह ने सभी खिलाड़ियों को खेल के प्रति जागरूक किया। इस अवसर पर कमांडेंट मुकेश कुमार वर्मा,रेफरी महेंद्र, उपनिरीक्षक रणजीत, उप निरीक्षक रामनरेश, उपनिरीक्षक प्रमोद सहायक, उप निरीक्षक अशोक, हवलदार हरबिलास, सिपाही जोगेंद्र, सुजीत,समर, श्यामलाल, चंदा, उपस्थित थे।


भाजपा का गम 'संपादकीय'

भाजपा का गम     'संपादकीय'
 राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के विधानसभा-चुनाव भाजपा के लिए चुनौती से भी बढ़कर है। दिल्ली विधानसभा-चुनाव में दो बार भाजपा को बौनें कद का एहसास कराया जा चुका है। पिछले विधानसभा-चुनाव में भाजपा की खूब किरकिरी हुई थी। जबकि उस दौर को 'भाजपा का स्वर्णिम दौर' कहा जाने में कोई अतिशयोक्ति नहीं होनी चाहिए। देश के ज्यादातर राज्यों में भाजपा कमल खिलाने में सफल रही। संपूर्ण भारत में भाजपा ने कुल 84% क्षेत्र में एकछत्र शासन स्थापित करने में महारत हासिल कर ली थी। वजह चाहे जो भी रही हो। आज भाजपा 35% राज्यों में सत्ता प्राप्त करने में सफल रही है। दिल्ली विधानसभा-चुनाव में गृहमंत्री अमित शाह को दायित्व सौंपा गया है। लेकिन दिल्ली फतह करना भाजपा के लिए 'टेढ़ी खीर' ही नजर आ रही है। अरविंद केजरीवाल की राजनीतिक नीतियां विपक्षियों पर एक बार फिर भारी पड़ने वाली है। जनता को मिलने वाली सुविधाओं के बलबूते आम आदमी पार्टी की पूर्ण बहुमत की सरकार निर्वाचित होने का रास्ता और यात्रा बहुत छोटी हो गई है। दिल्ली में भाजपा की जद्दोजहद कुछ लाभकारी सिद्ध अवश्य होगी। दिल्ली की जनता विवेकपूर्ण निर्णय लेने में माहिर है। जिसका प्रमाण भी रहा है कि भाजपा की 31 सीटों पर जीत के बाद पुनः चुनाव होने पर भाजपा को 70 सीटों में से कुल 3 सीटों पर ही संतोष करना पड़ा था। हालांकि राजू श्रीवास्तव का हास्य व्यंग उस समय बहुत चर्चित भी रहा था। जिसमें उन्होंने कहा था कि "भाजपा का यही गम है, पहले चार कम थे, अब 4 से भी कम है। पिछले चुनाव और दिल्ली सरकार का सेवा-भाव जनता के मन में घर कर चुका है। जिसको निकालने या कम करने का सतत प्रयास दिल्ली भाजपा के द्वारा नहीं किया गया है। गृहमंत्री का प्रयास भाजपा को बढ़ने के लिए प्रेरित करेगा। लेकिन प्रत्याशियों की छवि और लोकप्रियता राह का बड़ा कांटा साबित होंगे।


राधेश्याम 'निर्भय-पुत्र'


प्रदर्शनकारियों के मुकदमे वापस ले सरकार

लखनऊ। बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की अध्यक्ष मायावती ने सूबे की भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की सरकार से नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) और राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) को लेकर दर्ज किए गए मुकदमों को वापस लेने की मांग की। साथ ही बसपा सुप्रीमो ने विरोध प्रदर्शन के दौरान मारे गए लोगों के परिजनों को आर्थिक मदद देने के लिए भी सरकार से मांग की है।


मायावती ने एक ट्वीट में कहा, “सीएए और एनआरसी के विरोध में संघर्ष करने वाली महिलाओं समेत जिन लोगों के भी खिलाफ उत्तर प्रदेश की भाजपा सरकार द्वारा गलत मुकदमे दर्ज किए गए हैं, उन्हें तुरंत वापस लिया जाए और इस दौरान जिनकी जान गई है, सरकार उनकी भी उचित मदद करे। यह बसपा की मांग है।”


इससे पहले मायावती लखनऊ विश्वविद्यालय में सीएए को पाठ्यक्रम में शामिल किए जाने को लेकर विरोध दर्ज करा चुकी हैं। उन्होंने कहा था, “सीएए पर बहस आदि तो ठीक है, लेकिन कोर्ट में इस पर सुनवाई जारी रहने के बावजूद लखनऊ विश्वविद्यालय द्वारा इस अतिविवादित व विभाजनकारी नागरिकता कानून को पाठ्यक्रम में शामिल करना पूरी तरह से गलत व अनुचित है। बसपा इसका सख्त विरोध करती है तथा प्रदेश में सत्ता पर आने के बाद इसे अवश्य वापस लेगी।


30 तक बर्फबारी, ओलावृष्टि, बरसात

देहरादून। आज सोमवार को पूरा दिन आकाश में काले बादल घिरने से जहां पहाड़ों में जबरदस्त ठंड का प्रकोप रहा, वहीं मौसम विभाग के अनुसार 28 व 29 जनवरी को भी हालात ऐसी ही बनी रहेगी। मौसम विभाग ने कल 28 जनवरी को अल्मोड़ा, नैनीताल, देहरादून, पौड़ी, हरिद्वार और ऊधमसिंह नगर में ओलावृष्टि की संभावना व्यक्त की है। वहीं कुछ स्थानों पर हल्की बारिश तथा ऊंचाई वाले स्थानों पर बर्फबारी भी हो सकती है। 2500 मी. तथा उससे ऊंचाई वाले इलाकों में बर्फबारी होने की संभावना जाहिर की गई है। 29 जनवरी को भी हालत कुछ ऐसी ही रहेगी।उत्तरकाशी, चमोली, रुद्रप्रयाग और पिथौरागढ़ जिले में 3000 मीटर और उससे अधिक ऊंचाई वाले स्थानों पर बर्फबारी की संभावना है। नैनीताल, देहरादून, पौड़ी, हरिद्वार और ऊधमसिंह नगर में ओलावृष्टि की संभावना है। 30 जनवरी को भी कुछ जगह बादल छाए रह सकते हैं, लेकिन बारिश की संभावना कम है। अलबत्ता माह का आंखिरी दिन यानी 31 जनवरी को सूर्य देवता के दर्शन होने की संभावना जाहिर की गई है।


बड़े समूहों के साथ त्रिस्तरीय समझौता

नई दिल्ली। केन्द्र सरकार ने पूर्वोत्तर क्षेत्र में लोगों की भलाई और स्थायी शांति बनाए रखने के लिए प्रतिबंधित संगठन नेशनल फ्रंट ऑफ बोडोलैंड (एनडीएफबी) से संबद्ध सभी धड़ों और असम सरकार के साथ साेमवार को यहां एक त्रिपक्षीय समझौते पर हस्ताक्षर किए। केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह की मौजूदगी में यहां गृह मंत्रालय में असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद साेनोवाल और एनडीएफबी के प्रतिनिधियों के बीच इस समझौते पर हस्ताक्षर किए गए।


अमित शाह ने इस मौके पर कहा कि यह महत्वपूर्ण समझौता असम और बोडो समुदाय के लोगों के लिए एक स्वर्णिम भविष्य सुनिश्चित करेगा। वर्षों से चली आ रही शत्रुता को समाप्त करने में मदद मिलेगी क्योंकि एनडीएफबी में शामिल नौ धड़ों ने इसमें हिस्सा लिया है और 30 जनवरी को 1550 कार्यकर्ता हथियारों के साथ आत्मसमर्पण करेंंगे। शाह ने कहा,“ गृह मंत्री होने के नाते मैं सभी प्रतिनिधियाें को आश्वस्त कराना चाहता हूं कि किए गए सभी वादाें को तय समय सीमा में पूरा किया जाएगा।


कांग्रेस में वापसी का सवाल नहींः रावत

नैनीताल। नैनीताल चिड़ियाघर में पत्रकारों से बातचीत करते हुए प्रदेश के वन मंत्री डॉ. हरक सिंह रावत ने पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत के ट्वीट और कांग्रेस में वापसी की बात से जवाब दिया। हरीश रावत की ट्वीट का हवाला देते हुए उनसे पूछा गया कि हरदा ने कहा है कि वह किसी की वापसी में बाधा नहीं बनेंगे। इस पर हरक सिंह रावत ने कहा कि वापसी का सवाल ही नहीं है। कहा कि जब पार्टी में हालात बेहद खराब हो गए थे, तब हरीश रावत को हर स्तर पर समझाने की कोशिश की गई थी। पार्टी पदाधिकारियों की उपेक्षा पर भी उनसे सवाल किए गए थे। लेकिन तब उन्होंने एक न सुनी, जिसके कारण कांग्रेस छोड़ने का निर्णय लेना पड़ा। हालांकि उन्होंने हंसते हुए यह भी कहा कि राजनीति में ना तो कोई स्थायी दोस्त होता है और ना ही स्थायी दुश्मन। कहा कि उनकी हरीश रावत के साथ कोई व्यक्तिगत नाराजगी या तनातनी नहीं है। जो कुछ है राजनीतिक है। उल्लेखनीय है कि हरक सिंह रावत उन नौ विधायकों में शामिल थे जिन्होंने 18 मार्च 2016 को तत्कालीन मुख्यमंत्री हरीश रावत की सरकार में मंत्री होते हुए भी बगावत कर बगावत कर भाजपा के लैटर पैड पर राज्यपाल को समर्थन वापस लेने का पत्र सौंपा था, जिसके बाद हरीश रावत को कुछ समय के लिए अपदस्थ होना पड़ा था और राज्य को राष्ट्रपति शासन भी झेलना पड़ा था। बाद में सर्वोच्च न्यायालय के आदेशों से हरीश रावत की सरकार बहाल हो पाई थी। इन नौ कद्दावर नेताओं के भाजपा में आने के बाद कांग्रेस काफी कमजोर हुई और पिछले विधानसभा चुनावों में 70 सदस्यीय विधानसभा में 11 की संख्या पर सिमट गई, लेकिन इन नेताओं के भाजपा में होने के बावजूद खासकर हरक सिंह के कई बयानों से बागियों के कांग्रेस में वापसी की चर्चाएं भी होती रही हैं।


गणराज्य के विरुद्ध, भाजपा का कार्यक्रम

गणराज्य की परिभाषा के विपरीत कार्य कर रही है भाजपा


प्रयागराज। गणतंत्र दिवस की ७१ वीं वर्षगाँठ के अवसर पर समाजवादी पार्टी महानगर कार्यालय चौक में देश की आन बान शान तिरंगे को हर्षोउल्लास के साथ निर्वतमान महानगर अध्यक्ष सै०इफ्तेखार हुसैन ने फहराया।कार्यकर्ताओं के संग जन मन गण अधिनायक जया है गा कर तिरंगे को सलामी दी गई।वहीं गणतंत्र के महत्व पर प्रकाश डाला गया। इफ्तेखार ने कहा की आज देश ७१ वाँ गणतंत्र मना रहा है। लेकिन कुछ ऐसे लोग हैं जो गणराज्य की परिभाषा के विपरीत बाबा साहब के संविधान को कलंकित करने पर तुले हैं। संविधान की शपथ ले कर सत्ता पर क़ाबिज़ लोग देश के संविधान की धज्जियाँ उड़ा रहे हैं। आज देश का अधिकांश क्षेत्र के लोग इनके विद्बवेश के कारण सड़कों पर है। वर्तमान केन्द्र व प्रदेश की सरकार बेरोज़गारी,किसानों की समस्याओं,महंगाई,लूट और भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाने के बजाए कपड़ो और रंगों के आधार पर अंग्रेज़ो के छेड़े गए रंगभेद को लेकर देश का माहौल बिगाड़ रही है।दुख इस बात का है जो कुछ हो रहा है वह सब संविधान विरोधी कार्य हो रहा है और शपथ संविधान की ली जा रही है यह अपमान गणतंत्र और भारत के गणराज्य का कर रहे हैं और सार्टिफिकेट देश भक्ति का बाँट रहे हैं।अन्य वक्ताओं ने एनपीआर एनआरसी और सीएए के खिलाफ देश भर मे हो रहे प्रदर्शन का ज़िक्र करते हुए समाजवादी पार्टी की एक बैठक करने और इस क़ानून के खिलाफ जेल भरो आन्दोलन शुरु करने की बात कही।कहा हमारी माँ बहने दिन रात शान्तिपूर्वक तरीक़े से धरनारत हैं और शासन उनके आन्दोलन को खत्म करवाने के लिए प्रदेश के मुख्यमंत्री के इशारे पर एफ आई आर दर्ज कर परेशान कर रहा है।ऐसे वक़्त पर समाजवादी पार्टी का एक एक सिपाही जेल जाने को तय्यार है।हम न तो जेल जाने से डरते हैं और न ही गीदड़ भभकी से।अगर आन्दोलन चला रही एक भी भाई और बेटी की गिरफ्तारी हुई तो समाजवादी पार्टी जेल भरो आन्दोलन शुरु करेगी फिर देखते हैं प्रदेश की जेलों मे कितने लोगों को रखने और खिलाने की क्षमता है।झण्डा रोहण और संगोष्ठी में इसरार अन्जुम,सै०मो०अस्करी, विक्रम सिंह पटेल,मो०ग़ौस,प्रभात कुमार,मो०अज़हर,भोला पाल,अब्दुल समद,रेहान अहमद,किताब अली,मशहद अली खान,शबी हसन,अंकित केसरवानी,बलवन्त यादव,आर एन यादव,नमिता दास,रंजीत यदुवंशी,अमर सिंह आदि उपस्थित थे।


बृजेश केसरवानी


गंगा-यात्रा के 'भव्य स्वागत' की तैयारियां

प्रयागराज। नमामि गंगे कैम्प माघ मेला सेक्टर 2 जवाहर लाल नेहरू मार्ग प्रयागराज में गंगा यात्रा की बैठक सम्पन्न हुआ,जिसमे प्रमुख रूप से नमामि गंगे काशी प्रान्त के सह संयोजक राजेश शर्मा गंगा टास्क फोर्स टीम बलराम जी विद्यावती देवी पी.जी. कॉलेज कटरा दयाराम मऊआइमा,माँ गंगा सेवा समिति प्रयागराज के सचिव रंजन शर्मा मार्शल आर्ट गुरु बजरंग दृवेदी वरिष्ठ समाजसेवक संतोष मिश्रा अध्यापक शशि भूषण मधुप प्रकाश भट्ट सुधीर वर्मा सिद्धार्थ शर्मा आदि सम्मलित हुए। भारत सरकार द्वारा दिनाँक 27/1/2020 से 31/1/2020 को बलिया से कानपुर तक गंगा यात्रा कार्यक्रम की जानकारी दिया गया,तथा प्रयागराज में 29/1/2020 से 30/1/2020 को गंगा यात्रा का स्वागत भव्यता से करने का निर्णय लिया गया, बैठक के उपरांत गंगा गोष्ठी का आयोजन किया गया जिसमें मुख्य रूप से नमामि गंगे जल शक्ति मंत्रालय से अथर्व राज पांडेय व गंगा टास्क फोर्स से श्री बलराम जी राजेश शर्मा नमामि गंगे ने तीन सौ छात्र छात्राओ को गंगा,जल,पर्यावरण संरक्षण हेतु प्रेरित किया,तथा भारत सरकार द्वारा किये गए कार्यों की जानकारी नमामि गंगे प्रदर्शनी में दिया गया।


बृजेश केसरवानी


मां ने 2 माह की बच्ची को गटर में फेंका

कोलकाता। मां का नाम आते ही ममता की एक लहर दौड़ जाती है। लेकिन कोलकता शहर के बेलियाघाटा इलाके में एक मां ने अपनी ही बच्ची की हत्या कर ममता को शर्मसार कर दिया। घर से लापता दो महीने की बच्ची का शव एक गटर से बरामद किया गया है। कोलकाता पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने सोमवार को बताया कि बच्ची की मां को उसकी कथित तौर पर हत्या करने और शव को गटर में फेंकने के मामले में गिरफ्तार किया गया है।


अधिकारियों ने दावा किया कि मां प्रसव के बाद तनाव से पीड़ित थी, जिसके चलते उसने बच्ची की हत्या कर दी। पुलिस ने महिला को गिरफ्तार कर जांच शुरू कर दी है। उन्होंने बताया कि मां के, एक अज्ञात व्यक्ति द्वारा बच्ची के अपहरण की शिकायत दर्ज कराने के बाद पुलिस ने रविवार को मामले की जांच शुरू की थी। आईपीएस अधिकारी ने कहा, महिला बार-बार बयान बदल रही थी। हमने उससे कई घंटे तक पूछताछ की जिसके बाद उसने अपना अपराध स्वीकार कर लिया। ऐसा प्रतीत होता है कि वह गंभीर तनाव से पीड़ित थी जिसके चलते उसने यह कदम उठाया। हमने उसे गिरफ्तार कर लिया है।


सीपीएम नेता रमेश ने किया 'आत्मदाह'

इंदौर। सीपीएम नेता रमेश प्रजापत की मौत हो गई है। उन्होंने शुक्रवार को इंदौर में गीता भवन चौराहे पर आत्‍मदाह (Self Immolation) कर लिया था। उनकी जेब से सीएए (CAA) और एनआरसी (NRC) विरोधी पर्चे मिले थे। इस घटना में प्रजापत 90 फीसदी झुलस गए थे। उन्हें एमवाय अस्पताल (MY Hospital) में भर्ती कराया गया था। सोमवार को इलाज के दौरान उन्‍होंने दम तोड़ दिया।
मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के नेता रमेश प्रजापत ने तीन दिन पहले इंदौर के तुकोगंज इलाके में उन्होंने खुद को (Self Immolation) आग लगा ली थी। आसपास मौजूद लोग जब तक उन्हें बचाने के लिए दौड़े तब तक वो बुरी तरह झुलस गए थे। लोगों ने पुलिस कंट्रोल रूम को इसकी सूचना दी, जिसके बाद तुकोगंज थाने के बीट जवान वहां पहुंचे और उन्होंने लोगों की मदद से आग बुझाई। गंभीर हालत में प्रजापत को फौरन एमवाय अस्पताल में भर्ती कराया गया था. सोमवार सुबह उन्होंने दम तोड़ दिया। प्रजापत 90 फीसदी झुलस चुके थे।


पुलिस ने घटनास्थल से प्रजापत की थैली बरामद की थी। इसमें नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में छपे पर्चे मिले थे। तुकोगंज थाने के प्रभारी निर्मल कुमार श्रीवास ने बताया था कि 72 वर्षीय रमेशचंद्र प्रजापत ने गीता भवन चौराहे पर कथित रूप से खुद पर ज्वलनशील पदार्थ छिड़ककर आग लगा ली। इस घटना में में बुरी तरह झुलसे प्रजापत को गंभीर हालत में शासकीय महाराजा यशवंतराव चिकित्सालय में भर्ती कराया गया था। प्रजापत इतनी बुरी तरह झुलसे थे कि वो बयान देने की स्थिति में नहीं थे। सीपीएम सूत्रों ने बताया कि प्रजापत सीएए के विरोध में शहर के अलग-अलग स्थानों पर जारी प्रदर्शनों में लगातार शामिल हो रहे थे।


'बच्चन पांडे' में अक्षय के लुक का कहर

मुंबई। बॉलीवुड के खिलाड़ी कुमार अक्षय कुमार अपनी एक के बाद एक फिल्मों के लिए जाने जाते हैं। 2019 में चार फिल्में रिलीज होने के बाद अब 2020 में अक्षय कुमार कई फिल्मों के साथ बड़े पर्दे पर दिखाई देंगे। उनकी अपकमिंग फिल्मों की लिस्ट में फिल्म 'बच्चन पांडे' का नाम भी शामिल है। फिल्म में अक्षय कुमार के लुक की वजह से फैंस उनकी फिल्म का ब्रेसब्री से इंतजार कर रहे हैं। अब फिल्म का एक और लुक जारी किया गया है, जिसमें अक्षय कुमार काफी दमदार रोल में नजर आ रहे हैं।


फिल्म का पहला लुक 2019 में जारी किया गया था और अब एक और पोस्टर जारी किया गया है। इस पोस्टर में अक्षय कुमार का लुक काफी धांसू लग रहा है, जिसमें उन्होंने अच्छी खासी फिजिक बना रखी है और गले में सोने की कई चेन भी पहन रखी है। बड़ी दाढ़ी और मूंछ के साथ अक्षय अपनी पिछली फिल्मों के मुकाबले काफी अलग लुक में नजर आ रहे हैं।


सोशल मीडिया पर अक्षय कुमार के लुक की काफी तारीफ हो रही है और लोग इस लुक को पसंद कर रहे हैं। वहीं अक्षय ने सिर पर एक कपड़ा भी बांध रखा है। माना जा रहा है कि इस लुक का लोगों को काफी इंतजार रहेगा और फिल्म अगले साल 22 जनवरी को रिलीज होगी। आपको बता दें कि फिल्म की रिलीज डेट को बदला गया है, इससे पहले फिल्म क्रिसमस के मौके पर रिलीज होनी थी।


गणतंत्र दिवस समारोह में 2 छात्रों की मौत

भोपाल।।गणतंत्र दिवस पर मध्यप्रदेश में दो बड़े हादसे हो गए। एक तरफ जहां उमरिया में पीटी परेड के दौरान ठंड लगने से एक 12 वर्षीय मासूम की मौत हो गई। वही सुसनेर में रैली के दौरान एक 14 वर्षीय छात्र की अचानक मौत हो गई। छात्र की मौत के बाद एसडीएम मनीष जैन ने मुख्य कार्यक्रम को निरस्त कर श्रदांजलि दी।घटना के बाद से ही परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है।


पहली घटना उमरिया के संजय गांधी थर्मल पावर के विद्युत मंडल हायरसेकंडरी स्कूल की है।यहां रविवार सुबह गणतंत्र दिवस के अवसर पर प्रत्येक वर्ष की भांति स्कूल के मैदान पर पीटी का कार्य क्रम चल रहा था । कार्यक्रम में पांच विद्यालयों के छात्र और छात्राओं ने हिस्सा लिया था। इसमें आयुष पांडे पिता शशिकांत पांडे जूनियर वर्ग को कमांड कर रहा था। इसी दौरान वह बेहोश होकर वह गिर गया। जब उसे शहडोल ले जाया गया तो वहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।शहडोल के डॉक्टरों का कहना है कि संभवतः ठंड लगने के कारण छात्र की मौत हुई है हालांकि अभी पोस्टमार्टम रिपोर्ट नहीं आई है । पोस्टमार्टम रिपोर्ट में ही सच्चाई का खुलासा होगा।


वही दूसरी घटना आगर मालवा। जिले के सुसनेर के प्रायवेट संतोष कैथोलिक कान्वेंट स्कूल की है। यहां कक्षा 8 वी के छात्र सूरज पिता बद्रीलाल ओसारा उम्र 14 वर्ष जाती मेघवाल निवासी परसुलिया कला को अचानक चक्कर आने लगे उसके बाद अस्पताल में ले जाया गया जंहा पर डॉक्टर ने छात्र को मृत घोषित कर दिया।इस घटना की जानकारी मिलते ही क्षेत्र के विधायक राणा विक्रमसिंह सहित जनप्रतिनिधि गण और अधिकारी गण अस्पताल पहुंचे गए थे। छात्र की मौत के बाद एसडीएम मनीष जैन ने मुख्य कार्यक्रम को निरस्त कर श्रदांजलि दी।


साबित करो, आपका बाप हिंदुस्तान का है

मुंबई। बॉलीवुड अभिनेता परेश रावल उन सितारों में शुमार हैं जो किसी भी मुद्दे पर अपनी बात खुलकर रखते हैं। ऐसे में में एक बार परेश रावल ने सीएए, एनपीआर और एनआरसी पर अपनी बात रखते हुए ट्वीट किया है। परेश रावल का ट्वीट वायरल हो रहा है और सोशल मीडिया यूजर्स जमकर उनके ट्वीट पर रिएक्ट कर रहे हैं।


दरअसल 25 जनवरी को परेश रावल ने एक ट्वीट किया। इस ट्वीट में अभिनेता ने लिखा, ‘दोस्तों, आपको यह साबित नहीं करना कि हिंदुस्तान आपके बाप का है। बल्कि आपको यह साबित करना है कि आपका बाप हिंदुस्तान का है।’ परेश का ये ट्वीट चर्चा में आ गया है। ये बात तो साफ है कि सीएए और एनआरसी को लेकर न सिर्फ आम लोग बल्कि बॉलीवुड सितारे भी दो धड़ों में बिखर गए हैं। एक धड़ जहां इसके पक्ष में है तो वहीं दूसरा धड़ सीएए और एनआरसी के विरोध में। ऐसे में परेश रावल इसके पक्ष में लंबे वक्त से अपनी बात सोशल मीडिया पर रखते आ रहे हैं।


पहली ट्रांस महिला जर्नलिस्ट सादिया की शादी

एर्नाकुलम। देश की पहली महिला ट्रांस वुमेन जर्नलिस्ट हिदी सादिया ने आज केरल के एर्नाकुलम में अथर्व मोहन के साथ शादी की। केरल में स्पेशल मैरिज ऐक्ट के तहत यह चौथे ट्रांसजेंडर की शादी हुई। सादिया के शादी में बड़ी संख्या में लोग उपस्थित थे। एर्नाकुलम में धूमधाम से शादी समारोह का आयोजन हुआ।


बता दें कि हिदी सादिया केरल की पहली ट्रांसजेंडर पत्रकार हैं। उन्‍होंने कैराली न्‍यूज टीवी से अपने करियर की औपचारिक शुरुआत की है। ऐसा करने वाली सादिया राज्‍य की पहली ट्रांसजेंडर हैं।
सादिया ने 31 अगस्‍त 2019 को अपनी जॉब की औपचारि‍क शुरुआत की थी। उन्‍हें पहले असाइनमेंट में चंद्रयान-2 की यात्रा में हो रहे घटनाक्रम को कवर करना था। जिसे उन्होंने पूरा किया। उस समय सादिया ने कहा था कि मुझे खुशी है कि लोग अब एलजीबीटी समुदाय के लोगों को उनकी जगह दे रहे हैं।


सादिया ने बताया कि त्रिवेंद्रम इंस्‍टीट्यूट ऑफ जर्नलिज्‍म से इलेक्‍ट्रॉनिक मीडिया में पोस्‍टग्रेजुएशन करने के बाद मैं केरली टीवी के साथ बतौर इंटर्न जुड़ गई। इंटर्न ज्‍वाइन करने के एक सप्‍ताह बाद ही चैनल ने मेरे काम को देखते हुए मुझे न्‍यूज ट्रेनी की पोस्‍ट ऑफर की। इतना ही नहीं सादिया ने बताया कि इस प्रोफेशन में मैंने कोई भेदभाव महसूस नहीं किया। मेरा ऑफिस मुझे दूसरा घर लगता है। मुझे उम्‍मीद है कि भविष्‍य में एलजीबीटी समुदाय के लोगों को दूसरी जगहों पर इसी तरह का सम्मान मिलेगा।


सादिया ने 18 साल की उम्र में अपना घर छोड़ दिया था। क्‍योंकि उनके माता पिता उन्‍हें स्‍वीकार नहीं कर पा रहे थे। सादिया कहती हैं कि उन्‍हें उनसे कोई शिकायत नहीं है। मैं बस इतना चाहती हूं कि वह देखें कि मैं आज ये कर रही हूं। केरल की स्‍वास्‍थ्य मंत्री केके शैलजा ने उस समय फेसबुक पर सादिया को बधाई देते हुए लिखा था कि ये सभी भारतीयों के लिए एक गर्व का क्षण है। शैलजा के अनुसार, सादिया ट्रांसजेंडर कम्‍यूनिटी के लिए एक प्रेरणा हैं।


भीड़ का मंदिर पर हमला, मूर्ति को नुकसान

सिंध में एक और हिंदू मंदिर पर भीड़ का हमला, मूर्ति को नुकसान पहुंचाया


सिंध। पाकिस्तान में हिंदू और अन्य धर्म स्थलों को नुकसान पहुंचाने का सिलसिला थम नहीं रहा। सिंध में एक मंदिर पर कुछ लोगों ने हमला कर दिया और तोड़फोड़ की। प्रधानमंत्री इमरान खान आए दिन कश्मीर को लेकर भारत सरकार पर निशाना साधते रहते हैं जबकि खुद उनके देश में अल्पसंख्यकों के साथ उत्पीड़न की खबरें कम होती नहीं दिख रही हैं। कुछ दिन पहले ही ननकाना साहिब गुरुद्वारे पर हुई पत्थरबाजी की निंदा पूरे विश्व में हुई थी। अब इससे पहले सितंबर महीने में भी सिंध में ही एक और हिंदू मंदिर में कट्टरपंथियों ने तोड़फोड़ की थी।


मंदिर और मूर्ति को भीड़ ने नुकसान पहुंचाया


एक पत्रकार ने घटना की तस्वीरें शेयर करते हुए ट्वीट किया, ‘सिंध में अब एक और हिंदू मंदिर में तोड़फोड़ की गई। थारपरकर के चाचरो में भीड़ ने माता रानी भातियानी मंदिर में पवित्र मूर्ति और ग्रंथों को नुकसान पहुंचाया।’ पाकिस्तान में धार्मिक अल्पसंख्यकों के प्रार्थना स्थल और उत्पीड़न की घटनाएं आए दिन मीडिया में सुर्खियां बटोरती रहती हैं। सिंध प्रांत से हिंदू लड़कियों को अगवा कर जबरन धर्म परिवर्तन कराने की कुछ घटनाएं भी चर्चा में रही थीं।


80 से ज्यादा मौत, हाथ मिलाने पर रोक

बीजिंग। चीन में फैले जानलेवा करॉना वायरस से अब और ज्यादा खतरनाक रूप लेता जा रहा है और इसका फैलना लगातार जारी है। चीन के स्वास्थ्य विशेषज्ञ इसे बेहद खतरनाक श्रेणी में रख रहे हैं। सबसे चिंताजनक बात यह है कि इस बीमारी में लक्षण नहीं दिखते हैं और यह लोगों को अपनी जकड़ में ले ले रहा है। चीन में खौफ का आलम ये है कि वुहान में लोगों को उनके घरों में ‘कैद’ कर दिया गया है और इस शहर से किसी के निकलने की अनुमति तक नहीं है। पेइचिंग ने लोगों को एक-दूसरे से हाथ न मिलाने की सलाह दी है। बता दें कि चीन में अब तक इस बीमारी से 80 से ज्यादा लोग मारे जा चुके हैं। दुनियाभर की स्वास्थ्य एजेंसियां चीन के बाहर थाइलैंड, ऑस्ट्रेलिया, अमेरिका और फ्रांस तक पहुंच चुके इस वायरस को रोकने के लिए जीतोड़ कोशिश में लगी हुईं हैं।


नए वायरस से दुनिया सतर्कः इस अनजान नए वायरस से पूरी दुनिया सतर्क हो गई है। सबसे खतरनाक बात तो यह है कि स्वास्थ्य एजेंसियों को इसके फैलने के तरीके बारे तक में भी पता नहीं है। इस बीमारी के कारण न्यूमोनिया हो सकता है जो कुछ मामलों में बेहद खतरनाक है।


लक्षण का भी नहीं चल रहा है पताः चीन ने स्वास्थ्य मंत्री मा शीहावे ने बताया कि इस वायरस का असर 14 दिन तक का है। इस दौरान, यह वायरस संक्रमण फैला सकता है लेकिन खास बात यह है कि इस वायरस के संक्रमण का पता ही नहीं चल पाता है। सेवरे एक्यूट रेस्पेरिटरी सिंड्रोम (SARS) की तरह का मामला नहीं है। करॉना वायरस बेहद खतरनाक है और इसपर काबू पाना मुश्किल हो रहा है। बता दें कि SARS ने 2002-2003 में चीन में कहर बरपाया था और इससे करीब 800 लोगों की मौत हुई थी। चीन की राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग ने रविवार को बताया कि करीब 2000 लोग इस वायरस से पीड़ित हैं और अब तक 80 लोगों की मौत हो चुकी है।


WHO लगातार रख रहा है निगरानीः इधर, विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के महानिदेशक टेडरोस धानम गैब्रियेसस ने रविवार को बताया कि वह चीन के अधिकारियों और हेल्थ एक्सपर्ट से इस वायरस पर बात करने के लिए चीन पहुंच रहे हैं। उन्होंने कहा कि वह चीन के साथ इस बीमारी से निपटने के लिए मजबूत सहयोग करना चाहते हैं।


हाथ मिलाने तक पर भी रोकः चीन में स्वास्थ अधिकारियों ने लोगों को एक-दूसरे से हाथ नहीं मिलाने का आग्रह किया है। चीनी नववर्ष के बाद खुलने वाले स्कूल-कॉलेज अभी नहीं खुलेंगे। हॉन्ग कॉन्ग में भी स्कूल अब 17 फरवरी को खुलेंगे। चीन ने बाजार, रेस्तरा और ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म प जंगली जानवरों के मांस की बिक्री पर भी रोक लगा दी है। बता दें कि इस वायरस के इंसानों में फैलने का मुख्य जानवरों के मांस को ही माना जा रहा है।


परिजनों के सामने, दो बहनों से गैंगरेप

पंकज राघव


हापुड़। पुल‍िस की ड्रेस में कुछ बदमाश लूटपाट के इरादे से घर में घुसते हैं और जब घर में कुछ नहीं म‍िलता तो वह हैवान‍ियत भरा कदम उठाते हैं। बदमाश घर के मुख‍िया के साथ उनकी दोनों बेट‍ियों का अपहरण कर जंगल में ले जाते हैं और प‍िता के स‍िर पर तमंचा रख उसके सामने ही दोनों बेट‍ियों का गैंगरेप करते हैं। दर‍िंदगी की हद पार करने वाली यह घटना उत्तर प्रदेश के संभल ज‍िले की है। यूपी के संभल में एक बार फिर बेटियों की सुरक्षा को लेकर ऐसा मामला सामने आया है जिसने संभल में बेटियों की सुरक्षा के दावों की पोल खोलकर रख दी है। आपको बता दें क‍ि देर रात कुछ बदमाश नकली पुलिस बनकर एक ग्रामीण के घर में घुसते हैं और उस पर शराब बेचने का आरोप लगाते हुए उसके साथ मारपीट करते हैं। उसके बाद कार में ग्रामीण और उसकी दो बेटियों को अगवा कर जंगल में ले जाकर दोनों सगी बहनों से गैंगरेप करते हैं। वहीं संभल पुल‍िस ने गैंगरेप की जगह छेड़छाड़ की धाराओं में मुकदमा दर्ज क‍िया।


यह पूरा मामला संभल ज‍िले के बहजोई थाना क्षेत्र के एक गांव का है। दो सगी बहनों और उसके पिता ने मीडिया को बताया कि कुछ बदमाश देर रात नकली पुलिस बनकर उसके घर आते हैं और उसके पिता पर शराब बेचने का आरोप लगाते हैं। इसके बाद चारों ही बदमाश घर में दाखिल हो जाते हैं और सभी को बंधक बनाकर लूटपाट करने की कोशिश करते हैं। जब बदमाशों को घर में कुछ नहीं मिला तो बदमाश हथियारों के बल पर ग्रामीण और उसकी दो बेटियों को कार में बैठा कर जंगल में ले जाते हैं। जंगल में चारों बदमाशों ने ग्रामीण के सिर पर तमंचा रख करके दोनों बेटियों के साथ गैंगरेप किया।


करीब 2 घंटे बाद तीनों को छोड़कर वहां से चारों बदमाश फरार हो गए। लाचार पिता अपनी दोनों बेटियों को घर लेकर आता है और सुबह ही कुछ रिश्तेदारों के साथ थाने पहुंचता है। इसके बाद पुलिस को पूरे मामले की जानकारी विस्तार से दी लेकिन यूपी पुलिस अपहरण और गैंगरेप की बजाय अपहरण और छेड़छाड़ की धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज करती है।


शादी कर सकते हैं रणबीर-आलिया

मुंबई। बॉलीवुड एक्टर रणबीर कपूर और आलिया भट्ट इन दिनों अपनी फिल्म से ज्यादा अपनी शादी की चर्चा के चलते सुर्खियों में हैं। पिछले दिनों खबर आयी थी की ये जोड़ी इस साल शादी के बंधन में बंधने वाली हैं इतना ही नहीं कपूर फैमिली इस शादी की तैयारियों में लगी हुई है। वहीं अब इस कपल को लेकर एक और खबर सामने आई हैं। रणबीर कपूर और आलिया भट्ट ने हनीमून के लिए बेस्ट जगह देख रहे हैं। दोनों ने कुछ लेविश जगह को अपनी लिस्ट में जोड़े है जिसमें बहामास, फिनलैंड और स्विट्जरलैंड शामिल है।


'मन की बात' का विषय हिंसा-अहिंसा

नई दिल्ली। गणतंत्र दिवस के अवसर पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शाम छह बजे 'मन की बात' की। गणतंत्र दिवस समारोह की वजह से इस रविवार प्रधानमंत्री मोदी के रेडियो कार्यक्रम के समय में यह बदलाव किया गया। कार्यक्रम का समय सुबह 11 बजे की बजाय शाम छह बजे का तय किया गया था।  नए साल की शुरुआत के बाद  'मन की बात' कार्यक्रम का यह पहला आयोजन था।


पीएम मोदी ने कहा कि - हिंसा से किसी समस्या का समाधान नहीं हो सकता है और शांति हर सवाल के जवाब का आधार होना चाहिए। उन्होंने लोगों से अपील करते हुए कहा कि एकजुटता से हर समस्या के समाधान का प्रयास हो और भाईचारे के जरिए हर विभाजन और बंटवारे की कोशिश को नाकाम करें। आकाशवाणी पर प्रसारित ‘मन की बात’ कार्यक्रम में प्रधानमंत्री ने कहा कि हम इक्कीसवीं सदी में हैं, जो ज्ञान-विज्ञान और लोकतंत्र का युग है। क्या आपने किसी ऐसी जगह के बारे में सुना है जहां हिंसा से जीवन बेहतर हुआ हो ?
 
प्रधानमंत्री मोदी के 'मन की बात':-
देश और समाज के लिए कुछ कर गुजरने की भावना, हर दिन, पहले से अधिक मजबूत होती जाती है।
दिन बदलते हैं, हफ्ते बदल जाते हैं, महीने भी बदलते हैं, साल बदल जाते हैं, लेकिन, भारत के लोगों का उत्साह और हम भी कुछ कम नहीं हैं, हम भी कुछ करके रहेंगे  ‘कर सकते हैं’...ये ‘कर सकते हैं’ का भाव, संकल्प बनता हुआ उभर रहा है।
इस बार ‘गणतंत्र दिवस’ समारोह की वजह से आपसे ‘मन की बात’, उसके समय में परिवर्तन करना, उचित लगा। और इसीलिए, एक अलग समय तय करके आज आपसे ‘मन की बात’ कर रहा हूं।
हम इक्कीसवीं सदी में हैं, जो ज्ञान-विज्ञान और लोकतंत्र का युग है। क्या आपने किसी ऐसी जगह के बारे में सुना है जहां हिंसा से जीवन बेहतर हुआ हो? हिंसा, किसी समस्या का समाधान नहीं करती।
वर्ष 2022 में हमारी आजादी के 75 साल पूरे होने वाले हैं और उस मौके पर हमें गगनयान मिशन के साथ एक भारतवासी को अंतरिक्ष में ले जाने के अपने संकल्प को सिद्ध करना है।
स्वच्छता के बाद जन भागीदारी की भावना एक और क्षेत्र में तेजी से बढ़ रही है और वह है जल संरक्षण। इसके लिए कई व्यापक और नवोन्मेषी प्रयास देश भर में चल रहे हैं। समाज के हर क्षेत्र के लोग इसमें भागीदारी कर रहे हैं।
जब हर भारतवासी एक कदम चलता है तो हमारा भारतवर्ष 130 करोड़ कदम आगे बढ़ता है।
दिन बदलते हैं, हफ्ते बदल जाते हैं, महीने भी बदलते हैं, साल बदल जाते हैं, लेकिन भारत के लोगों का उत्साह कायम है कि , हम कुछ करके रहेंगे। हम कुछ कर के रहेंगे का भाव, संकल्प बनता हुआ उभर रहा है।
देशवासियों को यह जानकर बहुत प्रसन्ता होगी कि पूर्वोत्तर में अलगाववाद बहुत कम हुआ है और इसकी सबसे बड़ी वजह यह है कि इस क्षेत्र से जुड़े हर एक मुद्दे को शांति के साथ, ईमानदारी से चर्चा करके सुलझाया जा रहा है।
विश्व, भारत से जो अपेक्षा करता है, उन अपेक्षाओं को पूर्ण करने का सामर्थ्य, भारत प्राप्त करके रहेगा , इस विश्वास के साथ आइये- नए दशक की शुरुआत करते हैं और नए संकल्पों के साथ मां भारती के लिए जुट जाते हैं।
मोदी ने कहा कि हिंसा, किसी समस्या का समाधान नहीं करती। दुनिया की किसी भी समस्या का हल, कोई दूसरी समस्या पैदा करने से नहीं बल्कि अधिक-से-अधिक उसका समाधान ढूंढकर ही हो सकता है।
आइये, हम सब मिल कर,एक ऐसे नए भारत के निर्माण में जुट जाएं, जहां शांति हर सवाल के जवाब का आधार हो। एकजुटता से हर समस्या के समाधान के प्रयास हो और, भाईचारा, हर विभाजन और बंटवारे की कोशिश को नाकाम करे।
पिछले वर्ष, त्रिपुरा में भी 80 से अधिक लोग, हिंसा का रास्ता छोड़ मुख्य-धारा में लौट आए हैं जिन्होंने यह सोचकर हथियार उठा लिए थे कि हिंसा से समस्याओं का समाधान निकाला जा सकता है, उनका यह विश्वास दृढ़ हुआ है कि शांति और एकजुटता ही, किसी भी विवाद को सुलझाने का एक-मात्र रास्ता है।
देश के किसी भी कोने में अब भी हिंसा और हथियार के बल पर समस्याओं का समाधान खोज रहे लोगों से आज, इस गणतंत्र-दिवस के पवित्र अवसर पर अपील करता हूं कि वे वापस लौट आएं। मुद्दों को शांतिपूर्ण तरीके से सुलझाने में, अपनी और इस देश की क्षमताओं पर भरोसा रखें। 
ब्रू-रियांग शरणार्थियों का जिक्र करते हुए मोदी ने कहा कि दिल्ली में एक महत्वपूर्ण समझौते पर हस्ताक्षर किये गए | इसके साथ ही, लगभग 25 वर्ष पुरानी ब्रू-रियांग शरणार्थी समस्या के एक दर्दनाक अध्याय का अंत हुआ। यह समस्या 90 के दशक की है | 1997 में जातीय तनाव के कारण ब्रू रियांग जनजाति के लोगों को मिजोरम से निकल करके त्रिपुरा में शरण लेनी पड़ी थी | इन शरणार्थियों को उत्तर त्रिपुरा के कंचनपुर स्थित अस्थाई कैम्पों में रखा गया था। यह बहुत पीड़ादायक है कि ब्रू रियांग समुदाय के लोगों ने शरणार्थी के रूप में अपने जीवन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा खो दिया था। 23 साल तक - न घर, न जमीन, न परिवार के लिए , बीमारी के लिए इलाज का प्रबंध और ना बच्चों के शिक्षा की सुविधा।
 सरकारें आईं और चली गईं, लेकिन इनकी पीड़ा का हल नहीं निकल पाया। लेकिन इतने कष्ट के बावजूद भारतीय संविधान और संस्कृति के प्रति उनका विश्वास अडिग बना रहा।
इसी विश्वास का नतीजा है कि उनके जीवन में आज एक नया सवेरा आया है। समझौते के तहत, करीब 34000 ब्रू-शरणार्थियों को त्रिपुरा में बसाया जाएगा। इतना ही नहीं, उनके पुनर्वास और सर्वांगीण-विकास के लिए केंद्र सरकार लगभग 600 करोड़ रुपये की मदद भी करेगी। प्रत्येक विस्थापित परिवार को घर बनाने में उनकी मदद की जाएगी। इसके साथ ही, उनके राशन का प्रबंध भी किया जाएगा। ये समझौता कई वजहों से बहुत खास है। ये सहकारी संघवाद की भावना को दर्शाता है।


तमाम बड़े वादों की हकीकत खोकली

चंद्र वती वर्मा


नई दिल्ली। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने घटती नौकरियों के एक आंकड़े के बहाने मोदी सरकार पर निशाना साधा है। प्रियंका ने कहा कि नौकरियां देने के तमाम बड़े वादों की हकीकत यही है। देश के सात बड़े क्षेत्रों में करीब साढ़े तीन करोड़ लोग बेरोजगार हो गए हैं। बड़े-बड़े नामों और विज्ञापनों का नतीजा है 3 करोड़ 64 लाख बेरोजगार लोग। तभी तो सरकार नौकरी पर बात करने से कतराती है।


दोषी की याचिका सुनने को एससी तैयार

नई दिल्ली। कोर्ट निर्भया मामले में मौत की सजा पाने वाले चारों दोषियों में से एक दोषी मुकेश की आखिरी याचिका सुनने को सुप्रीम कोर्ट राजी हो गया है। सुप्रीम कोर्ट ने दोषी मुकेश के वकील से कहा कि वह शीर्ष अदालत के सक्षम अधिकारी के समक्ष आज ही याचिका का उल्लेख करें। दोषी मुकेश की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि अगर किसी को फांसी दी जाने वाली है तो सुनवाई से ज्यादा जरूरी कुछ नहीं हो सकता। बता दें कि मुकेश कुमार सिंह ने शनिवार को राष्ट्रपति द्वारा दया याचिका खारिज करने के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में अपील की थी।
बता दें कि बीते हफ्ते निर्भया गैंगरेप और हत्याकांड मामले में चारों दोषियों में एक दोषी मुकेश सिंह की दया याचिका राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने खारिज कर दी। राष्ट्रपति ने दया याचिका खारिज करते हुए दोषियों की फांसी की सजा बरकरार रखने की सिफारिश की है। केंद्रीय गृह मंत्रालय 16 जनवरी 2020 की रात दोषी मुकेश सिंह की दया याचिका राष्ट्रपति को भेजी थी। दोषी मुकेश ने सुप्रीम कोर्ट से क्यूरेटिव पिटिशन खारिज होने के बाद राष्ट्रपति को दया याचिका भेजी थी।


गृह मंत्रालय ने मुकेश सिंह की दया याचिका राष्ट्रपति के पास 16 जनवरी की रात को भेजी थी। मंत्रालय ने याचिका को अस्वीकार करने की दिल्ली के उप राज्यपाल की सिफारिश दोहराई थी। दिल्ली के उप राज्यपाल ने गुरुवार को मुकेश सिंह की दया याचिका गृह मंत्रालय को भेजी थी। इसके एक दिन पहले दिल्ली सरकार ने याचिका अस्वीकार करने की सिफारिश की थी।


दोषी मुकेश ने सुप्रीम कोर्ट से क्यूरेटिव पिटिशन खारिज होने के बाद राष्ट्रपति को दया याचिका भेजी थी। दिल्ली पटियाला कोर्ट ने चारों दोषियों।। मुकेश सिंह (32), विनय शर्मा (26), अक्षय कुमार सिंह (31) और पवन गुप्ता (25) को सुनाई गई मौत की सजा पर अमल का आदेश ‘डेथ वॉरंट’ सात जनवरी को जारी किया था। हालांकि, दोषी मुकेश की दया याचिका राष्ट्रपति के पास लंबित होने के कारण गुरुवार को दिल्ली कोर्ट ने कहा कि 22 जनवरी को फांसी नहीं दी जा सकती है।


चूहों बचा रहे जान, बारूदी सुरंग खोजी

कंबोडिया। चूहों से अक्सर हमें किसी न किसी तरह की दिक्कत होती है। कभी वे कुछ काट देते हैं। कभी कोई सामान चोरी कर लेते हैं। कभी खाने-पीने की चीजें बर्बाद कर देते हैं लेकिन कंबोडिया में चूहे हीरो (Hero Rats) होते हैं। क्योंकि यहां चूहे हजारों लोगों की जान बचा रहे हैं।


अभी हाल ही में कंबोडिया के सियेम रीप प्रांत के त्रापियांग क्रासांग गांव में इन चूहों ने 788,257 वर्ग मीटर की जमीन से बारूदी सुरंगें (Landmines) खोजकर उन्हें नष्ट करने में मदद की है। इसके बाद ये जमीन 19 कंबोडियाई परिवारों को वापस दी गई। इन चूहों ने 170 बारूदी सुरंगों को खोजा। ये सुरंगे कई सालों से दबी हुई थीं और फटी भी नहीं थी। इनके फटने से लोगों और जानवरों के मरने का डर बना रहता था। इन सुरंगों को खोजकर नष्ट करने में चूहों को मात्र तीन महीने लगे।


इन चूहों को बारूदी सुरंगें खोजने की ट्रेनिंग देती है एंटी पर्सनल लैंडमाइंस डिटेक्शन प्रो़डक्ट डेवलपमेंट (APOPO)। इस संस्था की शुरुआत 1997 में हुई थी। लेकिन बतौर अंतरराष्ट्रीय गैर-सरकारी संस्था के तौर पर इसका पंजीकरण 2017 में किया गया। इस संस्था की शुरुआत की थी बार्ट वीटजेंस ने। इन्होंने देखा कि अफ्रीका के पाउच्ड रैट किसी भी तरह के बारूदी सुरंगों को खोजने में सक्षम हैं तो इन्होंने चूहों से बारूदी सुरंगें खोजने का प्रस्ताव रखा।


APOPO ने अपने चूहों की मदद से कंबोडिया, अंगोला, जिम्बाब्वे और कोलंबिया में बारूदी सुंरगों को खोजकर लोगों की जान बचाई है। अब तक इन चूहों ने इन देशों में करीब 1.38 लाख से ज्यादा बारूदी सुरंगें खोजी हैं। जनवरी 2019 में जारी किए गए APOPO के आंकड़ों को देखें तो इनके पास अभी 151 चूहे हैं। इनमें से 26 सिर्फ प्रजनन का काम करते हैं। 53 चूहे बारूदी सुरंगों को खोजने के लिए प्रशिक्षित हैं। 39 चूहे रिसर्च और डेवलपमेंट के लिए हैं। 10 रिटायर हो चुके हैं।10 चूहों को अमेरिका के चिड़ियाघरों में शांतिदूत बनाकर भेजा जा रहा है।


हर चूहे को हफ्तें में पांच दिन बारूदी सुरंगें खोजने की ट्रेनिंग जी जाती है। एक दिन में ये सिर्फ आधे से डेढ़ घंटे की ट्रेनिंग करते हैं। आखिरी के दो दिन ये सिर्फ पार्टी करते हैं। एक चूहे की ट्रेनिंग पर हर महीने करीब 400 रुपए का खर्च आता है। इन चूहों की उम्र 8 से 10 साल होती है। ये अपने जीवन में से 6 से 7 साल काम कर सकते हैं इन चूहों के जरिए आप एक टेनिस कोर्ट के बराबर की जगह में बारूदी सुरंगें सिर्फ 20 मिनट में खोज सकते हैं। जबकि, मेटल डिटेक्टर से खोजने में करीब एक से चार दिन लग सकते हैं। चूहे बारूदी सुरंगे खोजने में 100 फीसदी सफल होते हैं।


हेलीकॉप्टर क्रैश में बेटी सहित ब्रायंट की मौत

मनोज सिंह ठाकुर 


लॉस एंजिल्स। बास्केटबॉल की दुनिया में बड़ा शून्य, कोबी ब्रायंट नहीं रहे। हेलीकॉप्टर क्रैश होने के बाद हुई मौत, अन्य 4 की भी मौत।
बास्केटबॉल के जादूगर कोबी ब्रायंट की हेलिकॉप्टर क्रैश में मौत हो गई है। हादसे के वक्त उस हेलिकॉप्टर में कुल 5 लोग सवार थे। किसी को भी नहीं बचाया जा सका है।


दिग्गज बास्केटबॉल खिलाड़ी रहे कोबी ब्रायंट की एक विमान दुर्घटना में मौत हो गई है। कोबी ब्रायंट की गिनती बास्केटबॉल की दुनिया के महानतम खिलाड़ियों में होती थी। उनके निधन से प्रशसंकों में भारी शोक की लहर है। कोबी ब्रायंट जिस हेलिकॉप्टर में सवार थे, वह क्रैश हो गया। 41 वर्षीय कोबी ब्रायंट के साथ इस हेलिकॉप्टर में अन्य 4 लोग भी सवार थे। दावा किया जा रहा है कि इस हेलिकॉप्टर में उनकी 13 वर्षीय बेटी भी सवार थी।


स्थानीय समय के मुताबिक सुबह 10 बजे यह हादसा हुआ है। लॉस एंजेलिस टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक जब यह हादसा हुआ तब घना कोहरा छाया हुआ था। कोहरे की वजह से उनके रेस्क्यू ऑपरेशन में भी बचाव दल को दिक्कतों का सामना करना पड़ा। इस हादसे में विमान में सवार सभी लोगों की मौत हो गई है। कोबी ब्रायंट ने अपने 20 साल के करियर में कई रेकॉर्ड्स अपने नाम किए. कोबी ब्रायंट नेशनल बास्केटबॉल असोसिएशन की ओर से खेलते रहे और 5 चैम्पियनशिप अपने नाम की। 18 बार उन्हें ऑल स्टार नामित किया गया। साल 2016 में एनबीए के तीसरे सबसे बड़े ऑल टाइम स्कोरर के तौर वे रिटायर हुए। कोबी ब्रायंट ने 208 और 2012 ओलंपिक में यूएसए टीम के लिए दो स्वर्ण पदक भी जीता था।


गार्जियन टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक रिटायर होने के बाद उन्होंने मीडिया में कदम रखा। साल 2018 में उन्हें डियर बास्केटबॉल नाम सी शॉर्ट फिल्म के लिए ऑस्कर पुरस्कार भी मिला। जब उन्होंने रिटायरमेंट की राह चुनी थी, तब उन्होंने एक कविता लिखी थी। यह फिल्म उसी बारे में है।


डोनाल्ड ट्रंप ने जताया शोकः अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कोबी ब्रायंट के निधन पर शोक व्यक्त किया है। डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि दुनिया के महानतम बास्केटबॉल खिलाड़ी होने के बाद भी वे अपने जीवन की शुरुआत कर रहे थे। वे अपने परिवार से बेहद प्यार करते थे। वह भविष्य के लिए आशावान थे। उनकी बेटी गियाना की मौत इस घटना को और ज्यादा दुखद बना देती है।


ओबामा ने कहा दिल तोड़ने वाली घटनाः अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा ने भी इस घटना पर शोक व्यक्त किया है। ओबामा ने कहा कि कोबी ब्रेयांट महान थे। वे अपनी ज़िंदगी की दूसरी पारी की शुरुआत कर रहे थे। एक अभिभावक के तौर पर गियाना की भी मौत हमारे लिए भी दिल तोड़ने वाली है। इस दुख की घड़ी में मैं अपनी संवेदनाएं उनकी पत्नी के प्रति ज्ञापित करता हूं। इस दिन की किसी ने परिकल्पना नहीं की होगी।


राफेल नडाल ने भी जताया दुखः वर्ल्ड नंबर-1 स्पेन के टेनिस खिलाड़ी राफेल नडाल ने कहा कि इस सुबह मेरे दिन की शुरूआत दर्दनाक खबर पढ़कर हुई। कोबी दुनिया के महानतम खिलाड़ियों में से एक थे। कोबी ब्रायंट की बेटी गियाना और अन्य यात्रियों की भी मौत हो गई है। मेरी सद्भावना उनकी पत्नी और परिवार के साथ है। मैं शॉक्ड हूं।


मुंबई-जयपुर के बाद छपरा में वायरस

मनोज सिंह ठाकुर


पटना। चीन के वुहान में फैले करॉना वायरस से पूरी दुनिया में हाहाकार मचा हुआ है। इस बीच भारत में भी करॉना वायरस के संदिग्धों के मामले सामने आ रहे हैं। मुंबई और जयपुर के बाद बिहार के छपरा में करॉना वायरस की संदिग्ध मरीज मिली है। संदिग्ध महिला मरीज को पटना मेडिकल कॉलेज (पीएमसीएच) ले जाया जा रहा है। इससे पहले वह छपरा के एक अस्पताल के आईसीयू में भर्ती थी। महिला में करॉना वायरस जैसे लक्षण मिले हैं।


संदिग्ध महिला मरीज कुछ दिन पहले ही चीन से लौटकर आई है। इससे पहले जयपुर में चीन से एमबीबीएस की पढ़ाई कर लौटे एक डॉक्टर को करॉना वायरस से संक्रमित होने की आशंका में जयपुर के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया है। जयपुर के सवाई मान सिंह अस्पताल में भर्ती कराए गए इस डॉक्टर को एक अलग वॉर्ड में रखा गया है।


जयपुर में मिला संदिग्ध मरीज
राजस्थान के स्वास्थ्य मंत्री डॉ रघु शर्मा ने अस्पताल प्रशासन को डॉक्टर के परिवार के पूरे सदस्यों की जांच करने का आदेश दिया है। बता दें कि अबतक इस खतरनाक वायरस से चीन में 50 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। चीन में फैले जानलेवा करॉना वायरस से अब और ज्यादा खतरनाक रूप लेता जा रहा है और इसका फैलना लगातार जारी है।


चीन में लोग घरों में कैद
चीन के स्वास्थ्य विशेषज्ञ इसे बेहद खतरनाक श्रेणी में रख रहे हैं। सबसे चिंताजनक बात यह है कि इस बीमारी में लक्षण नहीं दिखते हैं और यह लोगों को अपनी जकड़ में ले ले रहा है। चीन में खौफ का आलम यह है कि वुहान में लोगों को उनके घरों में ‘कैद’ कर दिया गया है और इस शहर से किसी के निकलने की अनुमति तक नहीं है।


बेंगलुरु में यात्रियों की थर्मल स्क्रीनिंग
पिछले दिनों मुंबई में दो संदिग्ध मरीजों को बीएमसी द्वारा संचालित चिंचपोकली के कस्तूरबा अस्पताल में अलग वॉर्ड में रखा गया था। दोनों मरीज हाल ही में चीन से लौटे थे। उधर, बेंगलुरु इंटरनैशनल एयरपोर्ट पर रविवार सुबह 8 बजे से बाहर से आए यात्रियों की थर्मल स्क्रीनिंग जारी है। एयरपोर्ट हेल्थ ऑर्गनाइजेशन ने बताया, ‘पिछले 14 दिनों से चीन के वुहान से लौटे यात्रियों में से किसी की भी रिपोर्ट पॉजिटिव नहीं आई है। अब तक 392 यात्रियों की थर्मल स्क्रीनिंग हो चुकी है।’


करॉना का अब तक एक भी केस पॉजिटिव नहीं
देश के 7 हवाईअड्डों पर करॉना वायरस पर एहतियातन 137 उड़ानों से आए 29,000 से अधिक यात्रियों की जांच की गई है लेकिन अब तक एक भी केस पॉजिटिव नहीं पाया गया है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने ट्वीट कर बताया, ‘137 उड़ानों के 29,707 यात्रियों की जांच की गई। रविवार को 22 उड़ानों के 4,359 यात्रियों की जांच की गई। करॉना वायरस संक्रमण का अभी तक कोई मामला सामने नहीं आया।’


40 दिन तक भयानक 'युद्ध अभ्यास'

मनोज सिंह ठाकुर


नई दिल्ली। करीब 13 लाख जवानों की ताकत वाली भारतीय सेना धीरे-धीरे अपनी एक और ताकत बढ़ा रही है। सेना रॉकेट्स और मिसाइल्स से लेकर हाई-कैलिबर वाले टैंक और आर्टिलरी शेल्स का जखीरा भी खड़ा कर रही है। ये सारी तैयारियां इस तरह से की जा रही हैं ताकि 10 दिन तक चलने वाले किसी भयानक युद्ध के लिए सप्लाई पूरी रहे। आगे चलकर इस लक्ष्य को 40 दिन किया जाएगा। हालांकि, ऐसा किसी आने वाले खतरे के चलते नहीं बल्कि 2022-23 तक सेना को और मजबूत बनाने के लिहाज से किया जा रहा है।


चीन-पाक को ध्यान में रखकर तैयार हो रहा स्टॉक
रक्षा मंत्रालय के सूत्रों के मुताबिक, सेना के लिए अलग-अलग हथियार ’10 (I) स्तर’ तक पहुंचाए जाएंगे जिसका मतलब है कि 10 दिन तक चलने वाले घनघोर युद्ध के लिए जरूरी स्टॉक का होना। सूत्रों के मुताबिक, ‘यह खासकर पश्चिमी सीमा के लिए है। लेकिन हथियारों का रिजर्व पाकिस्तान और चीन, दोनों को ध्यान में रखकर खड़ा करना होगा।’ गौरतलब है कि पहले जो जरूरी सामान कम पड़ते थे, उन्हें पूरा कर लिया गया है और करीब 12,890 करोड़ रुपये के 24 और कॉन्ट्रैक्ट अभी पाइपलाइन में हैं। इनमें से 19 विदेशी कंपनियों के साथ किए गए समझौते हैं।


फिर बढ़ाई जाएगी ताकत
अगला टार्गेट 40(I) स्तर होगा। हालांकि, इसे लेकर काफी सोच-विचार किया जाएगा क्योंकि हर तरह के हथियारों की भारी संख्या में जरूरत नहीं होती और इतने बड़े रिजर्व को बनाए रखना लागत या सहूलियत के लिहाज से भी ठीक नहीं होता है। मंत्रालय का यह भी विचार है कि 2022-23 के बाद 10 साल तक घरेलू प्राइवेट सेक्टर को विदेशी कंपनियों के साथ मिलकर 8 अलग-अलग तरह के टैंक, आर्टिलरी और इन्फैन्ट्री हथियार बनाने में सक्षम बनाया जाए जिनकी कीमत 1,700 करोड़ रुपये सालाना आंकी गई है।


उरी हमले के बाद जागी सरकार
पिछले कई सालों से सेना में टैंक से लेकर एयर डिफेंस यूनिट तक हथियारों की कमी को लेकर सवाल खड़े होते रहे हैं। कई संसदीय और सीएजी रिपोर्ट्स में भी इसे बताया गया, लेकिन 2016 में हुए उरी हमले के बाद सरकार ऐक्शन मोड में आ गई और जल, थल और वायु, तीनों सेनाओं को वित्तीय अधिकार दे दिए गए। जब यह बात सामने आई कि सेनाओं के पास युद्ध के लिए पर्याप्त हथियार नहीं हैं, तो 10(I) स्तर के कॉन्ट्रैक्ट्स किए गए। इसके बाद हथियारों से लेकर इंजिन तक के लिए 24 हजार करोड़ रुपये के कॉन्ट्रैक्ट किए गए। सेना के लिए स्मर्च रॉकेट, कोंकुर ऐंटी-टैंक गाइेडेड मिसाइल, 125 एमएम APFSDS और दूसरे हथियारों के लिए कुल 19 कॉन्ट्रैक्ट रूस और दूसरे देशों की कंपनियों के साथ किए गए।


ऑर्डिनेंस बोर्ड को फटकार
रक्षा मंत्रालय सरकारी ऑर्डिनेंस फैक्ट्री बोर्ड के अंतर्गत आनेवाली 41 फैक्ट्रियों के संचालन और क्वॉलिटी कंट्रोल को बेहतर के लिए भी काम कर रहा है। यहां से सेना को 163 में से 90 हथियार सप्लाई होते हैं। यह कदम सरकार ने तब उठाया जब खराब मशीनरी के कारण बड़ी संख्या में हादसे होने लगे। पिछले महीने सीएजी ने सेना के स्तर की क्वॉलिटी न देने और खराब सामान सप्लाई करते हुए मिलिट्री की तत्परता के साथ समझौता करने के लिए बोर्ड को फटकार लगाई थी। सेना भी ऐसे लोगों की जवाबदेही तय करना चाहती है जो क्वॉलिटी चेक के लिए जिम्मेदार हैं और जिनकी लापरवाही के कारण 105 एमएम इंडियन फील्ड गन, 105 एमएम लाइट फील्ड गन, 130 एमएम MA1 मीडियम गन, 40 एमएम L-70 एयर डिफेंस और टी-72, टी-90 और अर्जुन मेन बैटल टैंक हादसे का शिकार होते हैं।


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

यूनिवर्सल एक्सप्रेस    (हिंदी-दैनिक)


जनवरी 28, 2020, RNI.No.UPHIN/2014/57254


1. अंक-171 (साल-01)
2. मंगलवार, जनवरी 28, 2020
3. शक-1941, माघ - शुक्ल पक्ष, तिथि- चतुर्थी, संवत 2076


4. सूर्योदय प्रातः 07:04,सूर्यास्त 05:52
5. न्‍यूनतम तापमान 5+ डी.सै.,अधिकतम-19+ डी.सै., हल्की बरसात की संभावना।


6.समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा।
7. स्वामी, प्रकाशक, मुद्रक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित।


8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102


9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.,201102


https://universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
cont.:-935030275
 (सर्वाधिकार सुरक्षित)


पाकिस्तान दौरा सुरक्षा कारणों को लेकर रद्द किया

वेलिंग्टन/ इस्लामाबाद। क्रिकेट पर संकट के बादल एक बार फिर से घिर आए हैं। न्यूजीलैंड का पूरा पाकिस्तान दौरा सुरक्षा कारणों को लेकर रद्द कर दि...