रविवार, 8 मई 2022

आई लव माई मदर 'कविता'

आई लव माई मदर    'कविता'  

न तो मां का प्यार मिला,
न वो बाप के प्यार का फूल खिला।
लुट गई मेरी मिन्नतें,
फिर भी बच गई कुछ हसरतें।

बचपन में मर गई मेरी मां,
मर गया मेरा बाप।
मिटी हुईं हस्तियों में, 
आपो ही आप।

कड़ी धूप में तपता रहा हूं मैं,
बूंद-बूंद कर रिश्ता रहा हूं मैं।
ए दोस्त, कौन सा मौसम है ऐसा, 
जिससे बचता रहा हूं मैं।

अब कोई दोस्त बाकी नहीं रहा,
जो कुछ खाली था, वो भी नहीं बचा।

बस एक इस लिहाज से, 
फरिश्ता है।
मेरे जो दिल के पास है,
वो मेरी मां का रिश्ता है।

कृति- चंद्रमौलेश्वर शिवांशु 'निर्भयपुत्र'

चक्रवात: तेज हवाएं व बारिश होने की आशंका

चक्रवात: तेज हवाएं व बारिश होने की आशंका   

मिनाक्षी लोढी/अकांशु उपाध्याय  

नई दिल्ली/कोलकाता। बंगाल की खाड़ी में आया तूफान रविवार को तीव्र होकर चक्रवात में बदल गया। जिसकी रफ्तार 75 किलोमीटर प्रति घंटे से अधिक है तथा इसके और तेज होने की आशंका है। मौसम विभाग ने यह जानकारी दी। हालांकि, चक्रवात के तटीय क्षेत्र से टकराए बिना अगले हफ्ते तक कमजोर पड़ने की संभावना है। मौसम कार्यालय ने कहा कि चक्रवात के प्रभाव से उत्तरी आंध्र प्रदेश और ओडिशा के तटों पर मंगलवार से तेज हवाएं चलने और बारिश होने की आशंका है। मौसम कार्यालय के मुताबिक, चक्रवाती तूफान का नाम ‘असानी’ रखा गया है, जो ‘क्रोध’ के लिए इस्तेमाल सिंहली भाषा का शब्द है। यह तूफान अंडमान द्वीप समूह में पोर्ट ब्लेयर से 380 किलोमीटर पश्चिम में बंगाल की खाड़ी के दक्षिण-पूर्वी क्षेत्र में केंद्रित है।

भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने रविवार सुबह 8.30 बजे जारी बुलेटिन में कहा, ‘‘अगले 24 घंटों के दौरान तूफान के उत्तर-पश्चिम की तरफ बढ़ने और पूर्वी मध्य बंगाल की खाड़ी के ऊपर एक गंभीर चक्रवाती तूफान में परिवर्तित होकर और तेज होने की आशंका है।’’ आईएमडी द्वारा चक्रवात के पूर्वानुमान के अनुसार, चक्रवात के 10 मई की शाम तक उत्तर-पश्चिम की तरफ बढ़ने और उत्तरी आंध्र प्रदेश व ओडिशा के तटों से बंगाल की खाड़ी के पश्चिम-मध्य एवं उत्तर-पश्चिमी क्षेत्र तक पहुंचने के आसार हैं। इसके बाद, इसके उत्तर-उत्तर-पूर्व की तरफ मुड़ने और ओडिशा तट से दूर बंगाल की खाड़ी के उत्तर-पश्चिमी क्षेत्र की ओर बढ़ने की प्रबल संभावना है।

आईएमडी के मुताबिक, चक्रवात के सोमवार को बंगाल की खाड़ी में 60 समुद्री मील (111 किलोमीटर प्रति घंटा) की गति से आगे बढ़ने की उम्मीद है। उत्तरी आंध्र प्रदेश और ओडिशा के तटों की ओर बढ़ने के साथ भीषण चक्रवाती तूफान के मंगलवार से धीरे-धीरे कमजोर होने का अनुमान है। आईएमडी ने कहा कि ओडिशा के तटीय जिलों और पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता सहित राज्य के दक्षिणी हिस्से में मंगलवार से हल्की से मध्यम बारिश होने की आशंका है। मछुआरों को सलाह दी गई है कि वे 10 मई से अगली सूचना तक समुद्र में और पश्चिम बंगाल एवं ओडिशा के तटों पर नहीं जाएं। मौसम विभाग के अनुसार, ओडिशा तट के पास समुद्र की स्थिति नौ मई को खराब और 10 मई को अत्यधिक खराब हो जाएगी। समुद्र में हवा की गति 10 मई को बढ़कर 80 से 90 किलोमीटर प्रति घंटा होने का अनुमान है।

'आईआईएम' नागपुर के स्थायी परिसर का उद्घाटन

'आईआईएम' नागपुर के स्थायी परिसर का उद्घाटन   

कविता गर्ग        

नागपुर। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने रविवार को कहा कि शिक्षा और स्वास्थ्य जैसे क्षेत्रों में यूनिकॉर्न और स्टार्ट-अप का प्रवेश देश के लिए बड़े बदलाव वाला साबित हो सकता है। कोविंद ने रविवार को भारतीय प्रबंधन संस्थान (आईआईएम) नागपुर के स्थायी परिसर का उद्घाटन करने के बाद एक सभा को संबोधित करते हुए यह बात कही। आईआईएम नागपुर की स्थापना 2015 में की गयी थी। राष्ट्रपति ने कहा कि एक शिक्षण संस्थान केवल सीखने का ही स्थान नहीं होता बल्कि यह हम सभी की भीतरी और छिपी हुई प्रतिभाओं को और संवारने का काम करते है। उन्होंने कहा, शिक्षण संस्थान वह जगह है। जो हम में से प्रत्येक में आंतरिक और कभी-कभी छिपी हुई प्रतिभा को भी निखारने का काम करते हैं। पाठ्यक्रम हमें अपने भीतर आत्मनिरीक्षण करने, महत्वाकांक्षा रखने और अपने सपनों को पूरा करने का अवसर देता है। राष्ट्रपति ने कहा, हम एक ऐसे युग में जी रहे हैं, जहां नवाचार और उद्यमिता की सराहना की जाती है और उसे प्रोत्साहित किया जाता है। विभिन्न यूनिकॉर्न या स्टार्ट-अप की कहानियों ने नया इतिहास रचा है। इसने नए रास्ते खोले हैंं। क्योंकि व्यावसायिक उद्यमों के अंतर्गत कई नए क्षेत्र आ रहे हैं।

उन्होंने कहा कि खाद्य सामग्रियों के वितरण से लेकर कई अन्य चीजें पहुंचाने और ले जाने तक, ऐसी सभी सेवाएं स्टार्ट-अप और ऐप-आधारित प्लेटफॉर्म द्वारा प्रदान की जाती हैं। कोविंद ने कहा, “शिक्षा और स्वास्थ्य जैसे क्षेत्र भी इन नए उद्यमों का हिस्सा बन गए हैं। इस तरह के प्रयास हमारे देश के लिए निर्णायक साबित हो सकते हैं। यह हमारे देश के लोगों के लिए नौकरी प्रदाता और राजस्व अर्जित करने का जरिया बन सकते हैं। कोविंद ने यह भी कहा कि नवाचार और उद्यमिता दोनों में न केवल प्रौद्योगिकी के माध्यम से लोगों के जीवन को बेहतर और आसान बनाने की क्षमता है, बल्कि यह कई लोगों को रोजगार के अवसर भी प्रदान कर सकते हैं। राष्ट्रपति ने छात्रों को संबोधित करते हुए उनसे कहा कि वे एक दूसरे से जुड़ी हुई दुनिया में रहते हैं और जल्द ही पेशेवरों के रूप में दुनिया की सैर करने वाले बनेंगे। राष्ट्रपति ने छात्रों से अपील करते हुए कहा, हालांकि, इस प्रयास में हमारे देश की मूल भावना और नैतिकता को कभी मत भूलना। आप दुनिया भर में भारतीय संस्कृति और ज्ञान के दूत होंगे और आपका प्रदर्शन पूरे देश के लिए मानक साबित होगा।

उन्होंने आईआईएम नागपुर के उद्यमिता विकास संस्था की सराहना भी की जिसने सफलतापूर्वक महिला उद्यमियों को स्नातक करने में सक्षम बनाया है और उनमें से छह ने अपने उद्यम भी शुरू किए हैं। इस अवसर पर केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान, केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी, महाराष्ट्र के उद्योग मंत्री सुभाष देसाई, राज्य के ऊर्जा मंत्री नितिन राउत और राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस भी मौजूद थे।

राष्ट्रपति पद, उम्मीदवार का ऐलान करेगी भाजपा

राष्ट्रपति पद, उम्मीदवार का ऐलान करेगी भाजपा

अकांशु उपाध्याय

नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी जल्द ही राष्ट्रपति पद के लिए अपने उम्मीदवार के नाम का ऐलान कर सकती है। सूत्रों के मुताबिक, बीजेपी ओबीसी या किसी महिला को राष्ट्रपति पद का प्रत्याशी बना सकती है। ओबीसी और महिलाओं का देश की आबादी में सबसे ज्यादा प्रतिनिधित्व है। हालांकि, अनुसूचित जनजाति अनुसूचित जाति या दक्षिण भारत के उम्मीदवार जैसी कई थ्योरी राजनीतिक हलकों में हैं। पार्टी सभी संभावनाओं को टटोलने और 2024 संसदीय चुनाव को नजर में रखकर ही उम्मीदवार के नाम को घोषित करेगी। जाति आधारित जनगणना की मांग के बीच, राजनीतिक पार्टियां जानती हैं कि ओबीसी देश की कुल आबादी का 40 प्रतिशत से अधिक है, जबकि महिलाएं भारत की आबादी का लगभग आधा हिस्सा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कई मौकों पर कह चुके हैं कि महिलाएं बीजेपी का नया वोटबैंक हैं। पार्टी के एक अंदरूनी सूत्र ने कहा कि सभी सामाजिक समीकरणों के बीच, एससी समुदाय से राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार की संभावना नहीं है क्योंकि वर्तमान राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद इसी समुदाय से संबंध रखते हैं। उन्होंने कहा, ‘इस बार एससी समुदाय के किसी नेता को मौका दिए जाने की संभावना बहुत कम है। राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार के लिए इस समय ओबीसी और महिलाओं को सबसे ज्यादा पसंद किया जा रहा है।

उत्तर प्रदेश से लेकर महाराष्ट्र तक सभी राज्यों में ओबीसी एक बड़ी ताकत है। हाल के उत्तर प्रदेश विधान सभा चुनाव में, कुछ ओबीसी नेताओं के पार्टी से बाहर होने के बावजूद, भाजपा को समुदाय से भारी समर्थन मिला। पार्टी के एक वरिष्ठ पदाधिकारी ने बताया कि बीजेपी की सहयोगी जेडीयू सहित लगभग सभी पार्टियों ने ओबीसी समुदाय का विश्वास जीतने के लिए जाति आधारित जनगणना की मांग की है और उनमें से राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार को नामित करके पार्टी को अगले लोक सभा चुनाव और आगामी राज्य चुनावों में फायदा होगा। पार्टी के एक वरिष्ठ पदाधिकारी ने कहा, ‘महिला और ओबीसी दोनों स्वतंत्र रूप से देश में मतदाताओं का सबसे बड़ा हिस्सा हैं पार्टी या तो व्यक्तिगत रूप से या एक साथ ओबीसी महिला उम्मीदवार को पद के लिए नामांकित करके उन्हें लुभाएगी वर्तमान में, छत्तीसगढ़ की राज्यपाल अनुसुइया उइके, तमिलनाडु की राज्यपाल तमिलिसाई सुंदरराजन और केरल के राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान का नाम भी संभावितों में है। वहीं झारखंड की पूर्व राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू के नाम भी भाजपा के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार के लिए सामने आ रहा है।

मंत्रालय का दावा, पर्याप्त मात्रा में कोयले की सप्लाई

मंत्रालय का दावा, पर्याप्त मात्रा में कोयले की सप्लाई  

अकांशु उपाध्याय  

नई दिल्ली। कोयला मंत्रालय ने दावा किया है कि देश के सभी पावर प्लांट को जरूरत के हिसाब से पर्याप्त मात्रा में कोयले की सप्लाई की जा रही है। सरकार कोयले का उत्पादन बढ़ाने का लगातार प्रयास कर रही है। बंद या छोड़ी गई कोयला खदानों में निकालने योग्य कोयला भंडार लगभग 38 करोड़ टन है। इन खदानों से कोयला आसानी से निकाला जा सकता है। ऐसे में इसकी भी कोशिशें जारी हैं। कोयला मंत्रालय का कहना है कि सरकार का लक्ष्य कोयले के आयात को कम करना और देश को इस क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनाना है। समय के हिसाब से कोयले की जरूरत बढ़ रही है। मंत्रालय ने कहा कि कोयले के जल्द आयात की सलाह दी गई थी, ताकि अतिरिक्त कोयला मई 2022 के महीने से ही बिजली संयंत्रों तक पहुंच जाए। तमिलनाडु और महाराष्ट्र ने कोयला आयात के आदेश दे दिए हैं। कोयले का उत्पादन बढ़ाने के लिए कई उपाय किए जा रहे हैं। कोयला ब्लॉक की नीलामी के लिए राजस्व हिस्सेदारी में 50 फीसद की छूट का प्रस्ताव है। समीक्षा बैठक में आवंटित कोयले की ढुलाई की प्रगति की भी समीक्षा की गई। मंत्रालय ने कहा कि आवंटित कोयले का उठान कुछ राज्यों में संतोषजनक नहीं है। उनसे कहा जा रहा है कि वह इस बारे में अपने प्रदर्शन में सुधार करें।

दुनिया की सबसे बड़ी कोयला कनन कंपनी कोल इंडिया मिलिटेड अपनी 20 बंद पड़ी भूमिगत कोयला खदानों को फिर से शुरू करेगी। कोल इंडिया इन खदानों को फिर से शुरू करने और राजस्व शेयरिंग मॉडल पर उत्पादन के लिए प्राइवेट सेक्टर से पेशकश करेगी। कंपनी ने शुक्रवार को निवेशकों के साथ मुंबई में एक बैठक भी की थी। बैठक में इस पेशकश के बारे में निजी क्षेत्र को बताया गया। इस कार्यक्रम में निवेशकों को संबोधित करते हुए केंद्रीय कोयला, खनन और संसदीय कार्य मंत्री प्रह्लाद जोशी ने बताया कि कोयला मंत्रालय का लक्ष्य थर्मल कोयले के आयात को कम करना और देश को इस क्षेत्र में आत्म-निर्भर बनाना है। जोशी ने सत्र में मौजूद निवेशकों से कहा, ’अभी कुछ समय पहले लोग कहा करते थे कि कोयले की आवश्यकता कम होने वाली है, लेकिन वर्तमान में हम कोयले की आवश्यकताओं में वृद्धि देख रहे हैं।’

प्रह्लाद जोशी ने कहा कि बंद पड़ी कोयला खदानों में निकालने योग्य भंडार लगभग 38 करोड़ टन है। इसमें से 3-4 करोड़ टन कोयला आसानी से निकाला जा सकता है। उन्होंने आगे कहा कि खनन गतिविधियों को जारी रखने से स्थानीय लोगों के लिए रोजगार के अवसर पैदा करते हुए टीपीपी को कोयले की आपूर्ति बढ़ाने में मदद मिलेगी।वहीं, केंद्रीय कोयला, खनन और रेल राज्य मंत्री रावसाहेब पाटिल दानवे ने इस अवसर पर अपने संबोधन में कहा कि भारत के पास दुनिया में कोयले का पांचवां सबसे बड़ा भंडार है। उन्होंने कहा कि सरकार का लक्ष्य घरेलू कोयला उत्पादन को वित्त वर्ष 2023-24 तक 1.2 अरब मीट्रिक टन तक बढ़ाने का है। उन्होंने कहा कि ईंधन के रूप में ऊर्जा मिश्रण में कोयले का सबसे बड़ा योगदान है। उन्होंने आगे कहा कि यह पहल नवीनतम खनन प्रौद्योगिकी, मजबूत प्रणालियों और प्रक्रियाओं की तैनाती का मार्ग प्रशस्त करेगी।

कई विकास कार्यों की जमीनी हकीकत को परखा

कई विकास कार्यों की जमीनी हकीकत को परखा   

नीरज जैन

झांसी। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का दो दिवसीय झांसी दौरा कई मायनों में महत्वपूर्ण रहा। उन्होंने विकास कार्यों की समीक्षा करते हुए कई को फटकार लगाई, कुछ पर कार्रवाई की तो कुछ को नसीहत भी दी। इसके अलावा उन्होंने कई विकास कार्यों की जमीनी हकीकत को परखा। साथ ही उन्होंने वीरांगना महारानी लक्ष्मीबाई के ऐतिहासिक दुर्ग में जाकर लाइट एंड साउंड शो का अवलोकन भी किया। दुर्ग की आगन्तुक पुस्तिका में उन्होंने अपने विचार व्यक्त करते हुए लिखा-अतीत को विस्मृत कर वर्तमान का नवनिर्माण नहीं हो सकता है।

वीरांगना महारानी लक्ष्मीबाई के सॉरी और पराक्रम को लाइट एंड साउंड शो के माध्यम से देखकर अभिभूत हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ आगंतुक पुस्तिका में लिखा की भारत की आजादी का प्रथम स्वतंत्र समय समर अपने आप में अत्यंत महत्वपूर्ण रहा है। इस स्वतंत्र समर में झांसी की रानी लक्ष्मीबाई का नाम बड़े सम्मान के साथ भारत के इतिहास में स्वर्ण अक्षरों में अंकित है।

महारानी लक्ष्मीबाई की वीरता, शौर्य और आजादी के इन महत्वपूर्ण घटनाक्रम को स्मार्ट सिटी मिशन में लाइट एंड साउंड शो के माध्यम से वर्तमान पीढ़ी के सामने प्रस्तुत करना अत्यंत सराहनीय पहल है। इतिहास के इन्हीं पलों के सम्बंध में कहा गया है कि अतीत को विस्मृत करके वर्तमान का नवनिर्माण नहीं हो सकता। इस कार्यक्रम को अन्य प्रकार से भी आगे बढ़ने का प्रयास किया जाना चाहिए।

बच्चें व राजनेताओं ने अपनी-अपनी मां को याद किया

बच्चें व राजनेताओं ने अपनी-अपनी मां को याद किया

हरिओम उपाध्याय

लखनऊ। अंतरराष्ट्रीय मातृ दिवस के अवसर पर रविवार को नन्हें-मुन्ने बच्चों ने पेंटिंग के जरिये तो, राजनेताओं ने सोशल मीडिया के माध्यम से अपनी-अपनी मां को याद किया है। जिनकी मां धरती पर मौजूद हैं‌। उनके बच्चों ने उनके पैर छूकर उनका आशीर्वाद लिया है। वहीं, जिनकी मां स्वर्गवासी हो गई हैं, उन बच्चों ने उन्हें श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए याद किया है। मातृ दिवस के दिन लखनऊ के रहने वाले स्कूली बच्चों में अभय सिंह, अवंतिका सिंह, सानवी शर्मा, रिद्विमा पाण्डेय और विवान बिष्ट ने पेंटिग के जरिये अपनी माँ को खास होने का अहसास दिलाया है। इसके अलावा नौजवानों, युवतियों समेत सभी ने अपनी माँ के पैर छूकर उनका आशीर्वाद लेते हुए मातृ दिवस की बधाई और शुभकामनाएं दी है। जिन लोगों की माँ अब इस धरती पर नहीं है। उन लोगों ने उनके चित्र पर पुष्प अर्पित कर नमन किया है।

सोशल मीडिया के फेसबुक, ट्वीटर, इंस्टाग्राम पर हजारों लोगों को अपनी माँ के साथ फोटो शेयर कर मातृदिवस की बधाई दी है। इतना ही नहीं इस अवसर पर माँ से जुड़े अनेक वो पल को सोशल मीडिया में साझा किया हैं जो उन्होंने अपनी मां के साथ बिताया है। उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री ब्रजेश पाठक ने अपने अधिकारिक ट्वीट हैंडल पर माँ की फोटो को साझा करते हुए ट्वीट किया है। उन्होंने कहा कि माँ पृथ्वी है, जगत है, धुरी है, माँ बिना इस सृष्टि की कल्पना अधूरी है’। ईश्वर हर जगह नहीं पहुंच सकता इसीलिए उसने माँ को बनाया है। आज मातृ दिवस के उपलक्ष्य पर सभी माताओं को नमन व चरणों में कोटि कोटि वंदन करता हूं।

इसके अलावा उप्र के वित्त एवं संसदीय कार्य मंत्री सुरेश कुमार खन्ना,आबकारी मंत्री नितिन अग्रवाल,औद्योगिक विकास मंत्री नंदगोपाल नंदी, परिवहन मंत्री दयाशंकर सिंह ने मातृदिवस पर बधाई बधाई एवं शुभकामनाएं दी। हर वर्ष मई माह के दूसरे रविवार को ‘मदर्स डे’ यानी मातृ दिवस मनाया जाता है। यह परंपरा लगभग 110 साल से चल रही है। इस दिन की शुरुआत अमेरिकी महिला एना जार्विस ने की थी। एना अपनी माँ से बहुत प्रेम करती थी और उन्हें ही अपना आदर्श मानती थी। जब एना की माँ की निधन हुआ तो उन्होंने कभी शादी न करने का फैसला करते हुए अपनी माँ के नाम अपना जीवन समर्पित कर दिया। उन्होंने इसकी तारीख इस तरह चुनी कि वह उनकी मां की पुण्यतिथि 09 मई के आसपास ही पड़े। और खास बात यह भी है कि इस भी ‘मदर्स डे’ 09 मई को ही पड़ा है। माँ का हमारे जीवन में बहुत बड़ा योगदान है। चाहे इंसान हो या जीव-जंतू इस धरती पर लाने वाली सिर्फ माँ ही है। माँ को सम्मान देने के लिए मई माह के दूसरे रविवार के दिन पूरी दुनिया में मातृदिवस (मदर्स डे) मनाया जाता है। इस दिन लोग अपनी माँ को यह एहसास दिलाते हैं कि दुनिया में अगर उन्हें कोई लाया है तो वो सिर्फ उनकी माँ ही है।

कई उन्नत हथियारों का परीक्षण करने की तैयारी: भारत

कई उन्नत हथियारों का परीक्षण करने की तैयारी: भारत  

अकांशु उपाध्याय  

नई दिल्ली। भारत स्वदेशी रूप से विकसित कई उन्नत हथियारों का परीक्षण करने की तैयारी कर रहा है। इसमें हवा से हवा में मार करने वाली मिसाइल, विकिरण रोधी मिसाइल से लेकर स्मार्ट एंटी-एयरफील्ड हथियारों में लंबी दूरी तक मार करने वाले गाइडेड बम शामिल हैं। इसी माह कम से कम तीन हथियारों के परीक्षण होने हैं। जिसमें हवा से हवा में मार करने वाली मिसाइल के अलावा नई पीढ़ी की एंटी-रेडिएशन मिसाइल भी हैं। चीन के साथ गतिरोध शुरू होने के बाद से भारतीय रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) ने देश में ही विकसित मिसाइलों के ताबड़तोड़ परीक्षण किये हैं। इसके बावजूद अभी भी डीआरडीओ के खजाने में कई ऐसे मिसाइल सिस्टम हैं जिनके सारे परीक्षण पूरे नहीं हुए हैं। आने वाले समय में इनके आखिरी परीक्षण करके इन्हें सशस्त्र बलों को उपयोग के लिए सौंपा जाना है। ”आत्मनिर्भर भारत” और ”मेक इन इंडिया” अभियान को पूरा करने के साथ ही यह स्वदेशी मिसाइलें चीन के साथ चल रहे गतिरोध के बीच भारत को भी रक्षा तकनीक में लगातार कामयाबी दिला रही हैं।

भारत स्वदेशी रूप से विकसित कई उन्नत हथियारों का परीक्षण इसी माह करने की तैयारी कर रहा है। इसमें हवा से हवा में मार करने वाली मिसाइल, विकिरण रोधी मिसाइल से लेकर स्मार्ट एंटी-एयरफील्ड हथियार और लंबी दूरी के ग्लाइड बम शामिल हैं। डीआरडीओ ने इस माह दृश्य सीमा से परे हवा से हवा में मार करने वाली 100-किमी. रेंज की एस्ट्रा-1 और 160 किमी. रेंज की एस्ट्रा-2 मिसाइल के परीक्षण की योजना बनाई है। इसके अलावा 150 किलोमीटर की स्ट्राइक रेंज के साथ नई पीढ़ी की एंटी-रेडिएशन मिसाइल (एनजीएआरएम) रुद्रम-1 का परीक्षण भी इस महीने के लिए निर्धारित है। 100-किमी. रेंज की एस्ट्रा-1 मिसाइल के उपयोगकर्ता परीक्षण पूरे होने के बाद रक्षा पीएसयू भारत डायनेमिक्स उत्पादन कर रहा है। डीआरडीओ के सूत्रों के मुताबिक एस्ट्रा-2 मिसाइल को अपने कैरिज और हैंडलिंग ट्रायल के साथ-साथ ”डमी ड्रॉप्स” को पूरा करने के बाद फाइटर जेट सुखोई-30एमकेआई से पहली बार ”लाइव लॉन्च” किया जायेगा। यह पहला मौका होगा जब सुखोई जेट से रूसी हथियार के बजाय स्वदेशी मिसाइल का परीक्षण किया जाएगा। भारतीय वायु सेना ने पहले ही 250 एस्ट्रा-1 मिसाइलों का प्रारंभिक आदेश दिया है। यह मिसाइल मैक 4.5 पर ध्वनि की गति से चार गुना अधिक तेज उड़ान भरती है। तेजस और मिग-29 लड़ाकू विमानों के साथ भी एस्ट्रा-1 के एकीकरण पर कार्य चल रहा है। रुद्रम मिसाइलों को लंबी स्टैंड-ऑफ रेंज से दुश्मन की हवाई सुरक्षा नष्ट करने के लिए डिजाइन किया गया है ताकि वायु सेना के स्ट्राइकर विमान बिना किसी बाधा के अपने मिशन को अंजाम दे सकें।

सूत्रों ने कहा कि डीआरडीओ इस साल के अंत तक अपनी सीमा को 350 किलोमीटर तक बढ़ाने के लिए ठोस ईंधन आधारित डक्टेड रैमजेट (एसएफडीआर) प्रणोदन पर आधारित एस्ट्रा-3 मिसाइल का पहला परीक्षण करने की भी योजना बना रहा है। मिसाइलों की एस्ट्रा श्रृंखला दिन और रात में फायर करने में सक्षम है। इसे लंबी दूरी पर अत्यधिक चुस्त सुपरसोनिक लड़ाकू विमानों का पता लगाने, ट्रैक करने और नष्ट करने के लिए डिजाइन किया गया है, जो महंगे रूसी, फ्रेंच और इज़राइली मिसाइलों की जगह लेगी। डीआरडीओ 350 किमी. रेंज की रुद्रम-2 और 550 किमी. रेंज की रुद्रम-3 हवा से जमीन पर मार करने वाली मिसाइल भी विकसित कर रहा है, जिसमें आईएनएस-जीपीएस नेविगेशन भी है। रुद्रम-2 का ट्रायल भी जल्द शुरू होने की उम्मीद है।इसके अलावा स्मार्ट एंटी-एयरफील्ड हथियारों के परीक्षण किये जाने हैं, जो सटीक गाइडेड बम हैं। इन्हें दुश्मन के रनवे, बंकर, एयरक्राफ्ट हैंगर और राडार को 100 किमी. की दूरी तक नष्ट करने के लिए डिजाइन किया गया है। 125 किलोग्राम के यह बम उपग्रह नेविगेशन या इलेक्ट्रो-ऑप्टिकल इमेजिंग इन्फ्रा-रेड सीकर (ईओआईआईआर) के दो विन्यासों पर आधारित हैं, जो सुखोई या जगुआर जैसे लड़ाकू विमानों में रैक पर रखे जाते हैं। एक सुखोई जेट ऐसे 32 बम ले जा सकता है। इसके अलावा 80 किलोमीटर तक मार करने वाले 1000 किलो भारी क्षमता वाले गाइडेड बम भी विकसित किए जा रहे हैं।

'हर घर नल से जल' योजना, ट्रीटमेंट प्लांट का अवलोकन

'हर घर नल से जल' योजना, ट्रीटमेंट प्लांट का अवलोकन

नीरज जैन

झांसी। अपने झांसी दौरे के दूसरे दिन मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पीताम्बरा पीठ के दर्शन करने के बाद चिरगांव विकासखंड स्थित गुलारा में निर्माणाधीन जल जीवन मिशन के तहत हर घर नल से जल योजना के वॉटर ट्रीटमेंट प्लांट का अवलोकन किया। उन्होंने गौशाला में गायों का पूजन कर उन्हें चारा भी खिलाया। झांसी के दो दिवसीय दौरे पर आए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ आज दूसरे दिन सुबह से ही अपने काफिले के साथ सीमा से सटे मप्र के दतिया स्थित मां पीताम्बरा पीठ के दर्शन के साथ उन्होंने अपने कार्यक्रम की शुरुआत की। वहां उन्होंने तंत्र साधना की विशिष्ट देवी मां धूमावती के भी दर्शन किए। आम तौर पर मां धूमावती के दर्शन केवल शनिवार को ही होते हैं। उन्होंने मां धूमावती को प्रसाद भी चढ़ाया। उनके साथ मप्र के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा समेत तमाम जनप्रतिनिध भी उपस्थित रहे।

उसके बाद मुख्यमंत्री ने वहां से सीधा चिरगांव के समीप स्थित गुलारा में जल जीवन मिशन के अंतर्गत गुलारा ग्राम समूह पेयजल परियोजना के निर्माणाधीन वाटर ट्रीटमेंट प्लांट का निरीक्षण किया। मौक़े पर ज़िलाधिकारी रविन्द्र कुमार ने उन्हें परियोजना के सम्बंध में अब तक हुए कार्यों की आवश्यक जानकारी दी। उन्होंने वहां उपस्थित कर्मचारियों से भी बात की। और प्लांट के निर्माण की गुणवत्ता की भी जानकारी ली।इसके बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा ग्राम पंचायत गुलारा, विकास खण्ड चिरगांव में स्थित गौशाला का निरीक्षण किया गया। उन्होंने गौशाला में गायों का पूजन करते हुए उन्हें घास खिलाई। वहां उपस्थित लोगों व जिलाधिकारी को उन्होंने गायों की संख्या बढ़ाने के निर्देश दिए। कुछ कमजोर बछड़ों को देख उन्होंने कहा कि इन्हें दूध नहीं पिलाते क्या? उन्होंने गौ के गोबर से गैस प्लांट लगाने, गौ आधारित खेती करने के भी टिप्स दिए। निरीक्षण के बाद वहां मुख्यमंत्री द्वारा अपने हाथों से पौधारोपण भी किया गया। इस दौरान उनके साथ जल शक्ति मंत्री स्वतंत्र देव सिंह, कैबिनेट मंत्री भानु प्रताप सिंह, सांसद अनुराग शर्मा, विधायक राजीव परीछा, विधायक डॉ रश्मि आर्या व तमाम जिले के आला अधिकारी उपस्थित रहे।

एक ही परिवार के 5 लोग, तालाब में डूबे

एक ही परिवार के 5 लोग, तालाब में डूबे  

कविता गर्ग  
मुंबई। महाराष्ट्र के ठाणे जिले के पूर्वी डोंबिवली इलाके में तालाब में डूबने से एक ही परिवार के पांच लोगों की मौत हो गई। मरने वालों में तीन बच्चे और दो महिलाएं शामिल हैं।
पुलिस के अनुसार तालाब में एक ही परिवार के 5 लोग कपड़े धोने के लिए पास के एक तालाब पर गए थे। पैर फिसलने के चलते यहां एक बच्चा तालाब में गिर गया और उसे निकालने के प्रयास में बाकी लोग तालाब में उतर गए और एक दूसरे को बचाने के चक्कर में सभी डूब गए। जानकारी मिलते ही मौके पर पहुंची पुलिस ने दमकल कर्मियों की मदद से देर रात सभी शव निकाले गए। ये दुखद घटना मुंबई से सटे डोंबिवली के संदप गांव की है।

इस पूरी घटना के संबंध में ग्रामीणों का कहना है कि गांव में पानी की किल्लत के चलते परिवार के लोग तालाब में कपड़े धोने गए थे। महिलाएं कपड़े धो रही थीं, तभी उनके साथ मौजूद एक बच्चा तालाब में गिर गया, जिसके बाद उसे बचाने के लिए एक-एक कर पानी में कूद पड़े। इसके बाद पांचों लोग डूब गए. मृतकों की पहचान मीरा गायकवाड़ (55), उनकी बहू अपेक्षा (30) और पोते मयूरेश (15), मोक्ष (13) और नीलेश (15) के रूप में हुई है। पुलिस का कहना है कि एक महिला और उसकी बहू तालाब के पास कपड़े धो रहे थे वहीं पास बैठा एक बच्चा अचानक फिसल कर तालाब में चला गया गया और वह डूबने लगा। वहां मौजूद परिवार के अन्य चार सदस्यों ने बच्चे को बचाने की कोशिश की, लेकिन वे सभी डूब गए और सभी की मौत हो गई, हालांकि घटना को लेकर तरह-तरह के कयास लगा रहे हैं। पुलिस की टीम मौके पर पहुंचकर घटना की जांच कर रही है।

इंटरनेशनल बॉर्डर पर दिखा ड्रोन, फायरिंग

इंटरनेशनल बॉर्डर पर दिखा ड्रोन, फायरिंग  

इकबाल अंसारी  
श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर के इंटरनेशनल बॉर्डर पर एक बार फिर ड्रोन देखा गया है। बॉर्डर सिक्योरिटी फोर्स ने अरनिया सेक्टर में ड्रोन को देखा, जिसके बाद बीएसएफ जवानों ने फायरिंग शुरू कर दी। आठ राउंड की फायरिंग के बाद ड्रोन पाकिस्तान जाते दिखा।
पाकिस्तान की ओर से आ रहा एक ड्रोन आरएस पुरा सब डिवीजन के अरनिया इलाके में दिखाई दिया। उसने शायद इंटरनेशनल बॉर्डर पार नहीं किया था।
बीएसएफ की ओर से जारी किए गए बयान के मुताबिक जवानों ने ड्रोन पर आठ राउंड फायरिंग की, जिसके बाद वह तुरंत वापस लौट गया। बताया जा रहा है कि ड्रोन जम्मू के अरनिया सेक्टर में अंतरराष्ट्रीय सीमा के पास देखा गया। बीएसएफ के सतर्क जवानों ने ड्रोन पर फायरिंग की। जल्द ही ड्रोन गायब हो गया। ड्रोन के संचालकों ने इसे वापस पाकिस्तान की ओर खींच लिया। इसके बाद से अंतरराष्ट्रीय सीमा पर चौकसी को और बढ़ा दी गई। बीएसएफ का तलाशी अभियान पूरा हो गया है। कोई भी संदिग्ध चीज नहीं मिली है।

भ्रष्टाचार व भ्रष्टाचारियों को संरक्षण, व्यवस्था की

भ्रष्टाचार व भ्रष्टाचारियों को संरक्षण, व्यवस्था की 

मनोज सिंह ठाकुर  
भोपाल। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने भारतीय जनता पार्टी सरकार पर भ्रष्टाचार निरोधक एजेंसियों काे पंगु बनाने का आरोप लगाते हुए आज कहा कि सरकार ने भ्रष्टाचार और भ्रष्टाचारियों को संरक्षण देने की पूरी व्यवस्था कर ली है। श्री कमलनाथ ने अपने ट्वीट में आरोप लगाया कि जो चुनाव के समय नारा देते थे, ‘ना खाऊंगा और ना खाने दूंगा’ और जो भ्रष्टाचारियों को 10 फ़ीट गहरे गड्ढे में डालने की बात करते थे, उन सभी ने मिलकर भ्रष्टाचार व भ्रष्टाचारियों को संरक्षण देने का पुख्ता इंतजाम कर दिया है।
अब भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम 1988 की धारा 17ए के तहत भ्रष्ट अधिकारियों, कर्मचारियों के लिए मुख्यमंत्री से लेकर प्रशासनिक विभाग की अनुमति अनिवार्य कर दी गयी है। 
उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश की शिवराज सरकार ने मोदी सरकार के इन निर्देशों को ताबड़तोड़ प्रदेश में लागू भी कर दिया है। इस निर्णय से भ्रष्टाचार निरोधक एजेंसियां पंगु बन जाएगीं। कमलनाथ ने आरोप लगाया कि सत्ता में आने के बाद भाजपा के तमाम नारे बदल गये हैं। अब भाजपा का नया नारा, ‘अबकी बार भ्रष्टाचार को संरक्षण देने वाली सरकार’ हो गया है।

बंगाली एक्ट्रेस जहां ने लेटेस्ट तस्वीरें शेयर की

बंगाली एक्ट्रेस जहां ने लेटेस्ट तस्वीरें शेयर की  

कविता गर्ग  
मुंबई। टीएमसी सांसद और बंगाली एक्ट्रेस नुसरत जहां ने अपनी लेटेस्ट तस्वीरें इंस्टाग्राम अकाउंट पर शेयर की है। तस्वीरों में नुसरत जहां व्हाउट और ब्लू कलर की ड्रेस पहनी हुई है। साथ ही ऑरेंज कलर की ब्रा के साथ गॉर्जियस लुक शेयर कर रही हैं। 
तस्वीरों में उनकी कमाल की फिटनेस देखने के लिए मिल रही है।
जो उनकी खूबसूरती में चार चांद लगा रही है। अपने लुक को कम्पलीट करने के लिए नुसरत ने कानों में बड़े ईयरिंग्स और खुले बाल रखे हुए है। साथ ही नो मोकअप में नजर आ रही हैं। इन तस्वीरों को देखने के बाद फैंस उनकी तारीफों के पुल बांधते नहीं थक रहे हैं।
एक यूजर ने ममता बनर्जी  पर तंज कसते हुए लिखा, 'बस ममता दीदी कुछ कहे नहीं आपको'। दूसरे ने लिखा, 'हाई गर्मी कोई ac चला दो यार'। वहीं, एक अन्य यूजर ने एक्ट्रेस के लिए लिखा, 'आप स्वीटनेस की परिभाषा हो। आप में शहद है। आप स्वीटनेस में नेचुरली टैलेंड हो।' उनकी फोटोज को 63 हजार से भी ज्यादा लाइक्स मिल गए हैं।

सीएम ने सियासी विरोधियों पर बोला हमला

सीएम ने सियासी विरोधियों पर बोला हमला  

नरेश राघानी  
जयपुर। राजस्थान के मुख्यमंत्री गहलोत अपने चिरपरिचित अंदाज में अपने सियासी विरोधियों पर निशाना साधने के लिए जाने जाते हैं। सीएम गहलोत का बोला हुआ, एक-एक शब्द ही सब कुछ बयां कर देता है। ऐसा ही पिछले साल विधानसभा में बजट भाषण के दौरान हुआ था। सीएम गहलोत ने विपक्ष के साथ-साथ अपने सियासी विरोधियों पर जमकर जुबानी हमला बोला।
बजट भाषण के दौरान सीएम गहलोत ने विधायकों के लिए दिल्ली की तर्ज पर क्लब स्थापना की घोषणा की। तब सीएम ने किसी सदस्य की टिप्पणी पर कहा- समझ नहीं आ रहा है क्या। अरे यहां कुछ खिलाड़ी है, जो छिपकर दिल्ली जाते हैं। उनको सब समझ में आ रहा है। हालांकि, सीएम गहलोत ने किसी का नाम नहीं लिया, लेकिन माना जा रहा है कि सीएम गहलोत का इशारा पायलट गुट की तरफ ही था।
सुलह के बाद भी खींचतान जारी
सीएम सीएम गहलोत के खिलाफ 2020 में पायलट गुट ने बगावत की थी। तब से ही गहलोत-पायलट गुट में खींचतान चल रही है। हालांकि दोनों गुटों में सुलह हो गया है। पायलट गुट के विधायकों को गहलोत कैबिनेट में जगह भी मिल गई, लेकिन गाहे-बगाहे दोनों नेताओं के बीच छत्तीस का आंकड़ा बरकरार है। सीएम गहलोत अवसर मिलते ही पायलट गुट को निशाने पर लेने से नहीं चूकते हैं।
पायलट ने यूं किया हिसाब बराबर
राजस्थान की राजनीति में सीएम गहलोत- पायलट के बीच कड़वाहट किसी से छिपी नहीं है। दोनों नेताओं के बीच की कड़वाहट कई बार जयपुर से दिल्ली दरबार पहुंच चुकी है। गहलोत के निशाना साधने पर पायलट भी पीछे नहीं रहते हैं। पिछले दिनों सीएम गहलोत ने खुलासा किया कि उनकी सिफारिश पर ही सचिन पायलट यूपीए-2 में मंत्री बने थे। पायलट ने गहलोत के कटाक्ष का हिसाब बराबर करने के लिए खुलासा किया कि सीएम गहलोत के बेटे वैभव गहलोत को मैंने जोधपुर से टिकट दिलवाया था। पार्टी आलाकमान वैभव गहलोत के टिकट देने के पक्ष में नहीं था। हालांकि, वैभव गहलोत के बड़े अंतर से हार का सामना करना पड़ा था।
कुछ लोग कुर्सी से चिपके रहते हैं...
23 मार्च 2022 को सचिन पायलट ने सीएम गहलोत का नाम लिए बिना कहा- कुछ लोग कुर्सी से चिपके रहते हैं। जयपुर में आयोजित एक कार्यक्रम में पायलट ने गहलोत का नाम लिए बिना निशाना साधते हुए कहा कि दुर्भाग्य है कि कुछ लोग राजनीति में कुर्सी से चिपके रहते हैं। ऐसे लोग खुद को असुरक्षित महसूस करते है। ठीक से काम नहीं कर पाते। अपने साथ वालों को साथ लेकर नहीं चल पाते। जयपुर के महारानी काॅलेज में वार्षिक उत्सव में भाग लेते हुए पायलट ने कहा कि राजनीति में मैं काफी कम उम्र में आ गया था। लोगों को मौका नहीं दूंगा तथा उनका हाथ पकड़कर आगे नहीं बढ़ाऊंगा तो मेरा राजनीति में जल्दी आने का क्या फायदा।

एलियंस से संपर्क के लिए नया प्लान बनाया

एलियंस से संपर्क के लिए नया प्लान बनाया  

डॉक्टर सुभाषचंद्र गहलोत  
वाशिंगटन डीसी। दुनिया में इन दिनों एलियन की चर्चा तेज हो गई है। एलियंस के बारे में आए दिन नए-नए और चौंकाने वाले दावे किए जाते हैं। क्या ब्रह्मांड में एलियन का अस्तित्व है ? सालों से वैज्ञानिक इस सवाल का जवाब खोजने की कोशिश कर रहे हैं, लेकिन उन्हें अभी तक कोई सफलता नहीं मिल पाई है ? वह यह नहीं पता कर पाए हैं कि ब्रह्मांड में कोई ऐलियन जैसी चीज है भी या नहीं ? हालांकि आए दिन एलियन के बारे में हैरान करने वाली खबरें आती हैं। लोगों ने कई बार एलियंस और यूएफओ को देखने का दावा किया है।
अब इस बीच अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने एलियंस से संपर्क करने के लिए एक नया प्लान बनाया है। नासा के इस प्लान के बारे में जानकर आप हैरत में पड़ जाएंगे। आइए जानते हैं कि नासा ने एलियंस से संपर्क साधने के लिए क्या प्लान बनाया है? इंसान सालों से ब्रह्मांड में जीवन की तलाश कर रहा है। इसके लिए दुनिया की अंतरिक्ष एजेंसियां स्पेस में सिग्नल भेजती हैं। लेकिन अब नासा ने धरती की तरफ एलियंस को आकर्षित करने के लिए अंतरिक्ष में इंसानों की न्यूड तस्वीरों को भेजने का प्लान बनाया है।
नासा का यह प्लान जरूर अजीबोगरीब लग रहा होगा, लेकिन यह एक अपडेट बाइनरी कोड मैसेज का हिस्सा है। नासा इस मैसेज का एलियंस से संपर्क के लिए इस्तेमाल करेगा। नासा के वैज्ञानिक सालों से एलियंस से संपर्क करने की कोशिश कर रहे हैं।
नासा की जेट प्रोपल्शन लेबोरेटरी (JPL) के खगोल वैज्ञानिक डॉ. जोनाथन जियांग और उनकी टीम ने इस बाइनरी कोड मैसेज को तैयार किया है। इस मैसेज में एक न्यूड महिला और पुरूष की तस्वीरों के अलावा, मैथ से जुड़े सवाल, डीएनए संरचना और सौर मंडल में।
धरती से संबंधित जानकारियों को शामिल किया गया है।
शोधकर्ताओं ने बताया है कि एक बाइनरी-कोडेड मैसेज को तैयार किया गया है जो मिल्की वे आकाशगंगा में एक मैसेज ट्रांसमिट करेगा। उनका कहना है कि तैयार किए गए इस मैसेज में मैथ के सवाल और भौतिक के नियम भी हैं।
शोधकर्ताओं का कहना है कि धरती पर जीवन की जैव रासायनिक संरचनाओं की जानकारी को इस मैसेज में शामिल किया गया है। इसके अलावा सौर मंडल की डिजिटल तस्वीर और धरती की सतह के बारे में जानकारी दी गई है।
उनका कहना है कि इस मैसेज में इंसानों की डिजिटल तस्वीर भी है और मैसेज को कैसे वापस भेजना है उस तरीके को भी बताया गया है। जियांग और उनकी टीम ने प्रस्ताव दिया है कि इस मैसेज को चीन के गुइझोई में स्थित टेलीस्टोप या कैलिफोर्निया में SETI संस्थान के एलन टेलीस्कोप से ट्रांसमिट कर सकते हैं।

10 मई को मेरठ आने का कार्यक्रम: सीएम

10 मई को मेरठ आने का कार्यक्रम: सीएम  

सत्येंद्र पंवार 
मेरठ। सूबे के मुख्‍यमंत्री योगी से आदित्‍यनाथ का 10 मई को मेरठ आने का कार्यक्रम है। क्रांति दिवस मुख्यमंत्री के प्रस्तावित मेरठ आगमन के  कमिश्नर ने बताया कि 10 मई को ही मेला नौचंदी शुरू होगा। मुख्यमंत्री मेला स्थल पर पहुंचकर वहां कराए गए सुधार कार्यों, इंटरलाकिंग टाइल्स की सड़कों का भी लोकार्पण कर सकते हैं। वहीं सीएम योगी के मिनट टू मिनट कार्यक्रम को मुख्‍यमंत्री कार्यलय भेजा गया है।
कमिश्नर सुरेन्द्र सिंह ने बताया कि पुलिस लाइन में हेलीपैड तक के मार्ग को ठीक करने, इंटरलाकिंग टाइल्स बिछाने का निर्देश दिया गया। सभी स्थानों पर कार्यक्रम की तैयारियां जल्द से जल्द पूरी करने का निर्देश दिया। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री मंडलीय समीक्षा करेंगे। जिसमें मेरठ जनपद के अधिकारी मौजूद रहेंगे जबकि अन्य जनपदों के अफसर वीडियो कांफ्रेंसिंग की मदद से जुड़ेगे। कमिश्नर ने बताया कि 10 मई को ही मेला नौचंदी शुरू होगा।
मुख्यमंत्री मेला स्थल पर पहुंचकर वहां कराए गए सुधार कार्यों, इंटरलाकिंग टाइल्स की सड़कों का भी लोकार्पण कर सकते हैं। इस दौरान डीएम दीपक मीणा, सीडीओ शशांक चौधरी समेत सभी विभागों के अफसर मौजूद रहे। क्रांति दिवस के अवसर पर शहीद स्मारक पर क्रांति के अमर बलिदानियों को श्रद्धा सुमन अर्पित करने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का आगमन अब तय हो गया है। उनका मेरठ दौरे का आधिकारिक कार्यक्रम आ गया है।

रिलीज से पहले ही फिल्म ने रचा इतिहास

रिलीज से पहले ही फिल्म ने रचा इतिहास   

कविता गर्ग  
मुंबई। रणबीर कपूर और आलिया भट्ट की फिल्म ‘ब्रह्मास्त्र पार्ट वन: शिवा’ का फैंस काफी बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं। ऐसे में उनके लिए एक बड़ी खुशखबरी है। अयान मुखर्जी की इस मोस्ट अवेटेड फिल्म ने रिलीज से पहले ही इतिहास रचा दिया है। यह भारतीय सिनेमा की ऐसी पहली फिल्म बन गई है, जिसे वॉल्ट डिज्नी स्टूडियो पिक्चर्स के ग्लोबल रिलीज कैलेंडर में जगह मिली है।
वॉल्ट डिज्नी के ग्लोबल कैलेंडर में जगह मिलने के बाद ‘ब्रह्मास्त्र’ ट्रायोलॉजी उन दिग्गज फिल्मों में शामिल हो गई है, जिनमें मार्वल स्टूडियोज की ‘थोर : लव एंड थंडर’ और ‘ब्लैक पैंथर : वाकंडा फॉरेवर’ जैसी सुपरहीरो फिल्में और जेम्स कैमरून की सुपर एनीमेशन ड्रामा ‘अवतार : द वे ऑफ वाटर’ का दबदबा है।
यह पहली बार है जब किसी भारतीय फिल्म ने इस सूची में जगह बनाई है। इसका मतलब कि अमिताभ बच्चन, रणबीर कपूर, आलिया भट्ट, मौनी रॉय और नागार्जुन अक्किनेनी स्टारर यह फिल्म दुनिया भर में 9 सितंबर 2022 को सिनेमाघरों में हिंदी के साथ-साथ तमिल, तेलुगु, कन्नड़ और मलयालम भाषा में भी रिलीज किया जाएगा। इसी दिन वॉल्ट डिज्नी स्टूडियोज मोशन पिक्चर्स द्वारा इस फिल्म को यूनाइटेड स्टेट और कनाडा में भी रिलीज किया जाएगा।
बता दें कि ‘ब्रह्मास्त्र’ भारतीय सिनेमा की पहली प्लांड फैंटेसी एडवेंचर ट्रायोलॉजी है। प्रोड्यूसर करण जौहर ने 11 अक्टूबर 2017 को फिल्म की घोषणा की थी। फिल्म को बनने में लगभग 5 साल का वक्त लगा। इतने सालों में कई बार इसकी रिलीज डेट को बदला जा चुका है। सबसे पहले इसे 15 अगस्त 2019 को रिलीज किया जाना था, फिर इसे क्रिसमस 2019 पर पर्दे पर लाने का निर्णय लिया गया।
इसके बाद तय किया गया कि ‘ब्रह्मास्त्र’ 2020 की गर्मियों में रिलीज किया जाएगा। लेकिन वीएफएक्स पर काम नहीं हो पाने के कारण फिर रिलीज डेट टली और इसे 4 दिसंबर 2021 को रिलीज करने का फैसला लिया गया। लेकिन अब फाइनली फिल्म इसी साल 9 सितंबर को रिलीज हो रही है।

यूपी: 2 बार मिलने वाला गेहूं 4 माह तक नहीं

यूपी: 2 बार मिलने वाला गेहूं 4 माह तक नहीं  

बृजेश केसरवानी 
प्रयागराज। राशन कार्ड धारकों के लिए खास खबर है। मुफ्त में राशन कार्ड पर प्रति माह में दो बार मिलने वाला गेहूं चार माह तक नहीं मिलेगा। यानी जून से लेकर सितंबर माह तक राशन कार्ड पर लोग निश्‍शुल्‍क गेहूं नहीं ले सकेंगे। इसका कारण भी जान लें। इस बार क्रय केंद्रों पर गेहूं की खरीद धीमी हो रही है। ऐसे में रोटी का संकट खड़ा होना तय है।
प्रति माह पांच किलो चावल मिलेगा। प्रतापगढ़ जनपद के पौने छह लाख कार्डधारकों को अब प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के अंतर्गत गेहूं नहीं मिलेगा। गेहूं की खरीद न होने से भारत सरकार ने कार्डधारकों को गेहूं के स्थान पर चावल देने का फैसला लिया है। अब उनको प्रति यूनिट पर सीधे पांच किलो चावल ही मिलेगा। प्रतापगढ़ जिले में गेहूं खरीद के लिए 44 केंद्र खोले गए हैं। इस बार खरीद काफी धीमी है। 37 दिन में करीब दो हजार मीट्रिक टन ही गेहूं की खरीद हो पाई है।
कार्ड धारकों को महीने में दो बार निश्‍शुल्‍क राशन सुविधा। शासन से माह भर में दो बार में कार्डधारकों को राशन मिलता है। इसमें राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन के तहत माह के पहले सप्ताह व प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना में माह के 15 तारीख के बाद राशन का वितरण होता है।
बाद में पीएमजीकेवाइ के तहत गेहूं मिलने लगेगा। पीएमजीकेवाइ के तहत जनपद में हर माह 80 हजार कुंतल गेहूं का वितरण होता था, लेकिन इस बार गेहूं की खरीद कम होने से शासन स्तर से इसके आवंटन पर रोक दिया गया है। बाकी खाद्य सामग्री जैसे तेल आदि मिलेगा, यानी अब जून से लेकर सितंबर तक गेहूं नहीं मिलेगा। इसके बाद फिर से पीएमजीकेवाइ में गेहूं मिलने लगेगा।
प्रतापगढ़ के डिप्‍टी आरएमओ बोले- गेहूं खरीद कम होने से निर्णय लिया गया। डिप्टी आरएमओ अजीत कुमार त्रिपाठी ने बताया कि गेहूं की खरीद कम होने से अब चार माह तक प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के अंतर्गत कार्डधारकों को गेहूं नहीं मिलेगा।
नमक न आने से वितरण पर रोक विपणन गोदामों में नमक न आने से राशन का वितरण कोटेदार नहीं कर रहे हैं। खासकर शहर की कई दुकानों पर कार्डधारक राशन लेने के लिए पहुंचते हैं, लेकिन कोटेदार नमक का उठान न किए जाने की बात कहकर उनको वापस कर दे रहे हैं। यह भी बता रहे हैं कि अभी तक राशन का उठान नहीं किया है। क्षेत्रीय खाद्य अधिकारी एसके पांडेय ने बताया कि नमक आने के बाद ही कोटेदार वितरण करेंगे।

हवा के झोंके से उड़ी, एक्ट्रेस रुबीना की ड्रेस

हवा के झोंके से उड़ी, एक्ट्रेस रुबीना की ड्रेस

कविता गर्ग
मुंबई। एक्ट्रेस रुबीना दिलैक का नाम टेलीविजन इंडस्ट्री की सबसे खूबसूरत हीरोइनों में शुमार है। एक्ट्रेस आए दिन अपने एक से बढ़कर एक शानदार लुक की तस्वीरें इंस्टाग्राम के जरिए अपने फैंस के साथ शेयर करती रहती हैं। इसी कड़ी में अब उनका एक लेटेस्ट वीडियो सोशल मीडिया पर सामने आया है। लेकिन इस वीडियो में रुबीना अपनी ड्रेस से काफई परेशान दिखाई दे रही हैं।

हवा के झोंके से उड़ी ड्रेस...
सामने आए वीडियो में आप देख सकते हैं कि रुबीना को शूटिंग सेट पर जाते हुए पैपराजी ने स्पॉट किया। इस दौरान रुबीना पर्पल कलर के गाउन ड्रेस में बला-सी खूबसूरत दिखाई दे रही थी, लेकिन ड्रेस का हाई स्लिट जो कि उनके बोल्डनेस में चार चांद लगा रहा था वो ही उनके लिए मुश्किलों का सबब भी बनता दिखाई दिया। दरअसल, इस दौरान काफी तेज हवा चल रहा थी और रुबीना की ड्रेस हवा के झोंके में काफी ऊपर उड़ती नजर आई।

जल्दीबाजी में निकल गईं रुबीना..
ड्रेस से उड़ने से रुबीना खुद को उप्स मूमेंट से बचाती दिखाई दीं और ड्रेस को संभालती नजर आईं।‌ वीडियो देखने के बाद साफ है कि एक्ट्रेस इस ड्रेस में काफी अनकंफर्टेबल महसूस कर रही थीं। इसके साथ ही रुबीना ने पैपराजी को भी ज्यादा पोज नहीं दिए कुछ बहुत जल्दी में अपनी ड्रेस संभालती हुआ अंदर चली गईं। अब रुबीना का ये वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है।

रुबीना का फैशन सेंस..
बता दें कि रुबीना आए दिन अपने एक से बढ़कर एक शानदार लुक्स को लेकर छाई रहती हैं। रुबीना सोशल मीडिया पर खूब एक्टिव रहती हैं और हर दिन अपने नित नए फोटोशूट की तस्वीरें फैंस के साथ शेयर करती रहती हैं। रुबीना के फैंस उनकी खूबसूरती के साथ साथ फैशन और ड्रेसिंग सेंस के भी काफी दीवाने हैं।‌ ऐसे में एकट्रेस की तस्वीरें और वीडियो सामने आते ही काफी तेजी से वायरल हो जाती हैं।

मुजफ्फरनगर पहुंचे राज्यपाल, स्वागत किया

मुजफ्फरनगर पहुंचे राज्यपाल, स्वागत किया 

संदीप मिश्र  
मुजफ्फरनगर। मेघायल के राज्यपाल सतपाल मलिक रविवार को दोपहर मुजफ्फरनगर पहुंचे। यहां मंसूरपुर क्षेत्र में उनका जोर-शोर से स्वागत किया गया।
आपको बता दे की मेघालय के राजयपाल सतपाल मालिक का मुज़फ्फरनगर दौरा था‌। जिसको लेकर प्रशासन भी मुस्तैद रहा तो वही साफ सफाई का भी विशेष ध्यान रखा।
मेघायल के राज्यपाल सतपाल मलिक आज दोपहर मुजफ्फरनगर पहुंचे। यहां मंसूरपुर क्षेत्र में उनका जोर शोर से स्वागत किया गया। बताया गया कि नेशनल हाईवे पर गांव घासीपुरा स्थित श्री राम दरबार मंदिर में पहुंचे। वह यहां मंदिर में आरती में हिस्सा लिया। इसके बाद वे एक कार्यक्रम में भाग लेने के लिए बघरा के लिए रवाना हो गए।
मेघालय के राज्यपाल सत्यपाल मलिक मुजफ्फरनगर में पूर्व सांसद हरेंद्र मलिक के आवास पर पहुंचे। यहां पूर्व सांसद कादिर राना, सपा जिलाध्यक्ष प्रमोद त्यागी ने उनका अभिनंदन किया। बता दें कि सतपाल मलिक मूल रूप से बागपत जनपद के रहने वाले हैं।

शहीद हुए 11 सैनिकों के प्रति संवेदना व्यक्त

शहीद हुए 11 सैनिकों के प्रति संवेदना व्यक्त 

डॉक्टर सुभाषचंद्र गहलोत  
काहिरा। मिस्र के राष्ट्रपति अब्देल-फतेह अल-सिसी ने सिनाई प्रायद्वीप में हुए आतंकवादी हमलें में शहीद हुए 11 सैनिकों के प्रति अपनी संवेदना व्यक्त की है।
राष्ट्रपति ने शनिवार को अपने फेसबुक पेज पर लिखा, 'मैं आपको यकीन दिलाता हूं कि इन विश्वासघाती आतंकवादियों के हमलों से देश के बच्चों और सुरक्षा बलों की आतंकवाद को जड़ से उखाड़ फेंकने की इच्छा और दृढ़ संकल्प कमजोर नहीं होंगी।
उन्होंने आतंकवाद से लड़ाई में मिस्र के सैनिकों के साहस और बलिदान की भी सराहना की।
मिस्र के संसद और कुछ सांसदों के द्वारा भी इस हमले की तीव्र निंदा की गई।
उल्लेखनीय है कि शनिवार को स्वेज नहर के पूर्व में एक वाटर पंपिंग स्टेशन पर आतंकवादियों के साथ हुई झड़प में मिस्र के कम से कम 11 सैनिकों की मौत हो गई है। सेना ने अपने एक बयान में कहा कि सेना के जवान एक अन्य इलाके में आतंकवादियों को धर दबोचने के काम में लगे हुए हैं। हालांकि बयान में जगह के नाम का जिक्र नहीं किया गया।

गुरुकुल में बच्चों के साथ मनाया 'मदर्स डे'

गुरुकुल में बच्चों के साथ मनाया 'मदर्स डे'  

संदीप मिश्र       
मुरादाबाद। पूरे देश भर में मदर्स डे बड़े ही हर्षोल्लास के साथ मनाया जा रहा है और मदर्स डे पर देश भर में कार्यक्रम आयोजित हो रहे हैं, तो वहीं, मुरादाबाद जनपद में भी मदर्स डे को बड़े ही धूमधाम के साथ मनाया गया। शहर में मदर्स डे पर कई कार्यक्रम आयोजित हुए। इसी कड़ी में सेवा द सर्विंग संस्था की ओर से गुरुकुल के बच्चों के साथ मदर्स डे मनाया गया और बच्चों को मदर्स डे का महत्व बताया गया।
रविवार को मदर्स डे के अवसर सेवा द सर्विंग की टीम ने गुरूकुल में मदर्स डे मनाया। कार्यक्रम के विषय में जानकारी देते हुए सेवा द सर्विंग की संस्थापिका मानुषी रस्तोगी ने बताया कि मदर्स डे पर हमने बच्चों को ये बताया एक मां की भूमिका हमारे जीवन में कितनी जरुरी होती है,उन्होंने कहा कि सेवा द सर्विंग टीम ज़रूरतमन्द बच्चो को निशुल्क शिक्षा देती है, और हमारी द्वारा यह गुरुकुल चलाई जा रही है जिसमें बच्चे शिक्षा ग्रहण करने आते हैं।
आज मदर्स डे के उपलक्ष्य में हमने गुरुकुल में हमने बच्चों की ड्रॉइंग प्रतियोगिता कराई, जिसमे बच्चों ने पेपर पर मां के चित्र पर रंग भरे और और उस ड्राइंग को उन्होंने अपनी मम्मी को वही बुलाकर गिफ्ट किये, जिससे उनकी मम्मी बहुत खुश हुई और साथ साथ अपने बच्चो को खूब प्यार भी किया। उन्होंने आगे कहा कि सेवा द सर्विंग टीम का मुख्य उदेश्य समाज में शिक्षा को फैलाना है, जिसमे हम हर रविवार गुरुकुल मे बच्चो को पड़ाने जाते हैं और समय समय पर उनके साथ गेम्स और विभिन्न प्रतियोगिता का भी आयोजन कराते है।

एग्जीक्यूटिव पदों के लिए आवेदन आमंत्रित

एग्जीक्यूटिव पदों के लिए आवेदन आमंत्रित  

अकांशु उपाध्याय 
नई दिल्ली। अगर आप एनटीपीसी में नौकरी करना चाहते हैं तो यह आपके लिए एक अच्छी खबर हो सकती है। दरअसल एनटीपीसी लिमिटेड द्वारा एग्जीक्यूटिव पदों के लिए आवेदन आमंत्रित किए गए हैं। जिसके लिए आवेदन करने की प्रक्रिया चल रही है। इन पदों के आवेदन पत्र जमा करने की अंतिम तारीख 13 मई है। इच्छुक और योग्य उम्मीदवार एनटीपीसी की ऑफिशियल साइट careers.ntpc.co.in पर जाकर ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं।
बता दें एनटीपीसी के भर्ती अभियान के द्वारा 15 खाली पदों भरा जाना है। जिसमें से 5 रिक्ति पद एग्जीक्यूटिव (सोलर पीवी) के पद के लिए हैं। 1 रिक्ति एग्जीक्यूटिव (डेटा विश्लेषण) के पद के लिए हैं। वहीं, 9 रिक्तियां एग्जीक्यूटिव (एलए/आर एंड आर) पद के लिए हैं। अधिसूचना के अनुसार एग्जीक्यूटिव (सोलर पीवी) के पद के लिए उम्मीदवारों की अधिकतम आयु 40 वर्ष होनी चाहिए। एग्जीक्यूटिव (डेटा विश्लेषण) के पद के लिए उम्मीदवारों की अधिकतम उम्र 35 वर्ष होनी चाहिए।
वहीं, एग्जीक्यूटिव (एलए/आर एंड आर) के पद के लिए उम्मीदवारों की अधिकतम आयु 35 वर्ष होनी चाहिए। आवेदन करने के लिए सामान्य / ओबीसी / ईडब्ल्यूएस श्रेणी के उम्मीदवारों को रजिस्ट्रेशन शुल्क के रूप में 300 रुपये का भुगतान करना होगा। जबकि अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति / पीडब्ल्यूबीडी / एक्सएसएम श्रेणी और महिला उम्मीदवारों को आवेदन शुल्क के भुगतान से छूट प्रदान की गई है। इच्छुक उम्मीदवार एनटीपीसी की ऑफिशियल वेबसाइट careers.ntpc.co.in के माध्यम से ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं।

गूगल ने डूडल से 'मदर्स डे' को बेहद खास बनाया

गूगल ने डूडल से 'मदर्स डे' को बेहद खास बनाया 

अखिलेश पांडेय/ अकांशु उपाध्याय

नई दिल्ली/वाशिंगटन डीसी। गूगल हर खास मौके को बेहद खास बनाने के लिए अपना डूडल तैयार करता है। इसी कड़ी में सर्च इंजन गूगल ने भी रविवार को अपने डूडल से मदर्स डे को बेहद खास बना दिया है।
दुनिया भर में ऐसे तो मदर्स डे अलग-अलग दिनों में मनाया जाता है पर भारत सहित ज्यादातर देशें में मां को समर्पित ये खास दिन मदर्स डे मई के दूसरे रविवार को मनाया जाता है। इस साल यानी 2022 में ये दिन 8 मई को पड़ रहा है।
बता दें Google ने मदर्स डे के मौके पर चार स्लाइड्स के साथ एक विशेष Gif Doodle तैयार किया है। डूडल स्लाइड में एक बच्चे और मां के हाथों के चार तस्वीरों को दिखाया गया है। पहली स्लाइड में, बच्चे को मां की उंगली पकड़े हुए दिखाया गया है। दूसरी स्लाइड में दिखाया गया है कि वे ब्रेल में पढ़ रहे हैं, तीसरी स्लाइड में उन्हें एक नल के नीचे हाथ धोते हुए दिखाया गया है और आखिरी में माँ और बच्चे को पौधे लगाते हुए दिखाया गया है।

60 फुट नीचे गिरी बस, 4 की मौत, 25 जख्मी

60 फुट नीचे गिरी बस, 4 की मौत, 25 जख्मी 

कविता गर्ग 

मुंबई। महाराष्ट्र के माणगांव के पास घोणसे घाट में एक बस उलट-पलट कर 60 फुट नीचे गिर गई। इस भीषण बस दुर्घटना में 2 लोगों की मौके पर ही मौत हो गई और 2 लोगों की इलाज के दौरान मौंत की खबर है। यह दुर्घटना माणगांव के म्हसला के पास मोड़दार सड़क में यह हादसा हुआ। बस में कुल कितने यात्री सवार थे इसकी ठीक तरह से जानकारी अब तक नहीं मिल पाई है। अब तक मिली जानकारियों के मुताबिक 4 लोगों की मौत और 25 लोग जख्मी हुए हैं। ये सभी यात्री मुंबई से सटे ठाणे के रहने वाले थे। जख्मी हुए सभी यात्रियों को म्हसला ग्रामीण अस्पताल और माणगांव उप जिला अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती करवाया गया है।

दुर्घटना की वजह अब तक साफ नहीं हो पाई है। पुलिस घटनास्थल पर पहुंच गई है। घटना के बारे में विस्तार से पूछताछ की जा रही है। यह प्राइवेट बस ठाणे से श्रीवर्धन की ओर जा रही थी। तभी रायगढ़ जिले के म्हसला तालुके में घोणसे घाट के पास यह बस उलट कर नीचे गिर गई। बस करीब 60 फुट नीचे जा गिरी है। दुर्घटनाग्रस्त लोगों की मदद के लिए घटनास्थल पर प्रशासन ने सारे इंतजाम लगा दिए हैं। जिले की संरक्षक मंत्री अदिति तटकरे ने भी मरने वालों के परिजनों और जख्मी लोगों से मुलाकात की।

भारत: 24 घंटे में कोरोना के 3,451 नए मामलें

भारत: 24 घंटे में कोरोना के 3,451 नए मामलें  

अकांशु उपाध्याय  
नई दिल्ली। देश में कोरोना वायरस संक्रमण के मामलों में तेजी से इजाफा देखने को मिल रहा है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से रविवार को जारी किए गए आंकड़ों के अनुसार, देश में पिछले 24 घंटे में 3,451 नए कोरोना वायरस के मामलें दर्ज किए गए हैं। इसके साथ देश में कुल मामलों की संख्या बढ़कर 4,25,57,495 हो गई है। देश में लगातार बढ़ रहे कोरोना के मामले चिंता पैदा करने वाले हैं।
आंकड़ों के अनुसार, शनिवार को देश में कोरोना वायरस के कारण कुल 40 मौत हुई हैं, जिसमें से अकेले केरल में ही करीब 35 से अधिक मौत हुई हैं। वहीं, देश में कोरोना वायरस के कारण होने वाली मौतों का कुल आंकड़ा 5,24,064 तक पहुंच गया है।
एक्टिव मामलों में आई कमी
स्वास्थ्य मंत्रालय की रिपोर्ट के अनुसार देश में रविवार को 3148 लोग कोरोना वायरस से ठीक हुए हैं। इसी के साथ कोरोना के एक्टिव मामले घटकर 20,635 रह गए हैं। वहीं, देश में कोरोना से ठीक होने वाले लोगों की संख्या बढ़कर 4,25,54,416 पहुंच गई है।

ब्रह्म मुहूर्त में खोलें गए 'बद्रीनाथ' मंदिर के कपाट

ब्रह्म मुहूर्त में खोलें गए 'बद्रीनाथ' मंदिर के कपाट  

पंकज कपूर  

देहरादून। ग्रीष्मकाल के लिए बद्रीनाथ मंदिर के कपाट रविवार को ब्रह्म मुहूर्त में 6:15 बजे खोल दिए गए। इस अवसर पर भारी संख्या में श्रद्धालु बद्री विशाल के दर्शन के लिए पहुंचे हैं। बद्रीनाथ धाम को फूलों से भव्य तरीके से सजाया गया है। अगले छह महीने तक श्रद्धालु मंदिर में भगवान बद्रीनाथ के दर्शन कर सकेंगे। आज सुबह बद्रीनाथ मंदिर के कपाट जैसे ही खुलेे, जय बद्रीनाथ के जयघोष से मंदिर गुंजायमान हो उठे। मंत्रोच्चारण से चारों तरफ का वातावरण भक्तिमय है। इससे पहले पांडुकेश्वर से तेल कलश यात्रा के साथ भगवान बद्री विशाल के प्रतिनिधि उद्धवजी और देवताओं के खजांची कुबेरजी की डोली बद्रीनाथ धाम पहुंची थी।

जोशीमठ में पूजा-अर्चना के बाद श्री बद्रीनाथ-केदारनाथ मंदिर समिति के खजांची भूपेंद्र रावत के नेतृत्व में भगवान बदरी विशाल का खजाना शुक्रवार देर शाम बद्रीनाथ धाम पहुंचा था। परंपरा के अनुसार खजाने के साथ भगवान नारायण के वाहन गरुडजी की मूर्ति भी खजाने के साथ बद्रीनाथ पहुंची। आठ मई को मंदिर के कपाट खुलने से पहले भगवान के खजाने की पूजा-अर्चना की गई और फिर आज ब्रह्म मुहूर्त में बद्रीनाथ धाम के कपाट खोल दिए गए।

गौरतलब है कि तीन मई को गंगोत्री और यमुनोत्री धाम के कपाट खुलने के साथ ही चारधाम यात्रा की शुरूआत हो गई थी। 6 मई शुक्रवार सुबह 6 बजकर 15 मिनट पर केदारनाथ धाम के कपाट श्रद्धालुओं के दर्शन के लिए खोल दिए गए थे। इस बार बेतहाशा भीड़ को देखते हुए प्रदेश सरकार ने चार धाम जाने वाले तीर्थयात्रियों की दैनिक सीमा तय की है. बद्रीनाथ में प्रतिदिन 15,000, केदारनाथ में 12,000, गंगोत्री में 7,000 और यमुनोत्री में 4,000 तीर्थयात्रियों की अनुमति दी गई है। यह व्यवस्था 45 दिनों के लिए की गई है। कोरोना महामारी शुरू होने के करीब दो साल बाद चारधाम यात्रा को लेकर लोगों के बीच भारी उत्साह देखा जा रहा है। भारी संख्या में लोग केदारनाथ, बद्रीनाथ, गंगोत्री, यमुनोत्री धाम में पहुंच रहे हैं।

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण     

1. अंक-212, (वर्ष-05)
2. सोमवार, मई 9, 2022
3. शक-1944, वैशाख, शुक्ल-पक्ष, तिथि-अष्टमी, विक्रमी सवंत-2079। 
4. सूर्योदय प्रातः 05:38, सूर्यास्त: 06:57।
5. न्‍यूनतम तापमान- 29 डी.सै., अधिकतम-41+ डी.सै.। उत्तर भारत में बरसात की संभावना।
6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है।
7.स्वामी, मुद्रक, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम व शिवांशु, (विशेष संपादक) श्रीराम व सरस्वती (सहायक संपादक) के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी।
8. संपर्क व व्यवसायिक कार्यालय- चैंबर नं. 27, प्रथम तल, रामेश्वर पार्क, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102।
9. पंजीकृत कार्यालयः 263, सरस्वती विहार लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102
http://www.universalexpress.page/
www.universalexpress.in
email:universalexpress.editor@gmail.com
संपर्क सूत्र :- +919350302745 
              (सर्वाधिकार सुरक्षित)

एससी ने सभी महिलाओं को 'गर्भपात' का हक दिया 

एससी ने सभी महिलाओं को 'गर्भपात' का हक दिया  अकांशु उपाध्याय  नई दिल्ली। गुरुवार को देश की सबसे बड़ी अदालत सुप्रीम कोर्...