व्यापार लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
व्यापार लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

शनिवार, 30 दिसंबर 2023

देश में अनुमान से कम रही प्याज की फसल

देश में अनुमान से कम रही प्याज की फसल
सरस्वती उपाध्याय 
नई दिल्ली। प्याज न‍िर्यात पर रोक लगाए जाने के बाद देश भर में उपभोक्ताओं को मामूली राहत म‍िली है, लेक‍िन इसकी वजह से क‍िसानों का बड़ा नुकसान हो गया है। महाराष्ट्र में प्याज का न्यूनतम दाम कई मंड‍ियों में स‍िर्फ एक रुपये प्रत‍ि क‍िलो रह गया है। प‍िछले दो साल से राज्य में ऐसे ही हालात हैं। स‍िर्फ महाराष्ट्र ही नहीं दूसरे राज्यों में भी प्याज उत्पादक क‍िसान नुकसान झेल रहे हैं। इसल‍िए देश के पांच बड़े प्याज उत्पादक सूबों में क‍िसानों ने इसकी खेती कम कर दी है। इस बार भी कम दाम से परेशान क‍िसान खेती कम कर रहे हैं, ज‍िसका असर उपभोक्ताओं पर अगले साल पड़ेगा। क्योंक‍ि उत्पादन कम होने की वजह से दाम बढ़ जाएगा। क‍िसानों का कहना है क‍ि इसके ल‍िए पूरी तरह से सरकार ज‍िम्मेदार होगी. स‍िर्फ महाराष्ट्र ही नहीं बल्क‍ि गुजरात, कर्नाटक, तम‍िलनाडु और तेलंगाना जैसे राज्यों में प्याज का रकबा और उत्पादन दोनों घटा है।
महाराष्ट्र प्याज उत्पादक संगठन के अध्यक्ष भारत द‍िघोले का कहना है क‍ि चूंक‍ि सरकार हाथ धोकर प्याज क‍िसानों के पीछे पड़ी हुई है इसल‍िए अब हमारे पास प्याज की खेती छोड़ने या कम करने के अलावा सरकार के ठोस व‍िरोध का कोई तरीका नहीं है। इस साल सरकार ने 17 अगस्त को एक अप्रत्याश‍ित फैसला लेते हुए सबसे पहले प्याज के एक्सपोर्ट पर 40 फीसदी ड्यूटी लगाई। उसके बाद 28 अक्टूबर को तय क‍िया क‍ि 800 यूएस डॉलर से कम कीमत पर कोई प्याज का एक्सपोर्ट नहीं कर सकता। यानी इसका म‍िन‍िमम एक्सपोर्ट प्राइस फ‍िक्स कर द‍िया। इसकी वजह से एक्सपोर्ट बाध‍ित हुआ और घरेलू बाजार में आवक बढ़ने से दाम घट गए।
सरकार के फैसलों से पहुंचा नुकसान : द‍िघोले का कहना है क‍ि अपने फैसलों से क‍िसानों का इतना नुकसान करने के बावजूद सरकार को संतोष नहीं हुआ। तब उसने सात द‍िसंबर की रात में एक्सपोर्ट बैन कर द‍िया। नेफेड और एनसीसीएफ पहले से ही क‍िसानों के ख‍िलाफ काम कर रहे हैं। मार्केट में जब 50 रुपये क‍िलो दाम था तब ये दोनों संस्थाएं 25 रुपये क‍िलो प्याज बेचकर बाजार को ब‍िगाड़ने का काम कर रही थीं। अब भी इन दोनों का यही काम है। प‍िछले दो साल से क‍िसी न क‍िसी वजह से क‍िसानों को प्याज का बहुत कम दाम म‍िल रहा है। ज‍िससे परेशान होकर क‍िसानों ने खेती का दायरा घटाया है। द‍िघोले का कहना है क‍ि अगर महाराष्ट्र के क‍िसानों ने खेती और घटा दी तो अगले साल तक प्याज के आयात की नौबत आ सकती है।

रविवार, 18 जून 2023

सेंसेक्स 758.95 अंक बढ़ा, 1.21 प्रतिशत लाभ 

सेंसेक्स 758.95 अंक बढ़ा, 1.21 प्रतिशत लाभ 

सुनील श्रीवास्तव

नई दिल्ली। सेंसेक्स की शीर्ष 10 में से छह कंपनियों के बाजार पूंजीकरण (मार्केट कैप) में बीते सप्ताह सामूहिक रूप से 1,13,703.82 करोड़ रुपये की बढ़़ोतरी हुई। सबसे अधिक लाभ में रिलायंस इंडस्ट्रीज रही। बीते सप्ताह बीएसई का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स 758.95 अंक या 1.21 प्रतिशत के लाभ में रहा।

शुक्रवार को सेंसेक्स 466.95 अंक या 0.74 प्रतिशत की बढ़त के साथ 63,384.58 अंक के रिकॉर्ड स्तर पर बंद हुआ। सप्ताह के दौरान रिलायंस इंडस्ट्रीज, हिंदुस्तान यूनिलीवर लि., आईटीसी, इन्फोसिस, एचडीएफसी और भारती एयरटेल के बाजार पूंजीकरण में बढ़ोतरी हुई। वहीं टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज (टीसीएस), एचडीएफसी बैंक, आईसीआईसीआई बैंक और भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) का बाजार मूल्यांकन घट गया। समीक्षाधीन सप्ताह में रिलायंस इंडस्ट्रीज का बाजार पूंजीकरण 63,259.05 करोड़ रुपये बढ़कर 17,42,415.47 करोड़ रुपये पर पहुंच गया।

हिंदुस्तान यूनिलीवर की बाजार हैसियत 18,737.99 करोड़ रुपये बढ़कर 6,38,019.76 करोड़ रुपये पर पहुंच गई। आईटीसी का बाजार मूल्यांकन 18,331.32 करोड़ रुपये के उछाल के साथ 5,63,237.76 करोड़ रुपये रहा। इन्फोसिस का मूल्यांकन 11,059.41 करोड़ रुपये चढ़कर 5,36,433.55 करोड़ रुपये पर पहुंच गया। भारती एयरटेल की बाजार हैसियत 2,016.08 करोड़ रुपये बढ़कर 4,66,412.79 करोड़ रुपये पर और एचडीएफसी की 299.97 करोड़ रुपये की बढ़ोतरी के साथ 4,89,496.34 करोड़ रुपये पर पहुंच गई।

इस रुख के उलट टीसीएस का बाजार पूंजीकरण 12,879.86 करोड़ रुपये घटकर 11,61,840.29 करोड़ रुपये पर और एसबीआई का 6,514.97 करोड़ रुपये के नुकसान के साथ 5,09,863.08 करोड़ रुपये पर आ गया। एचडीएफसी बैंक की बाजार हैसियत 4,722.95 करोड़ रुपये घटकर 8,95,458.57 करोड़ रुपये रह गई। आईसीआईसीआई बैंक के मूल्यांकन में 1,882.67 करोड़ रुपये की गिरावट आई और यह 6,53,980.16 करोड़ रुपये पर आ गया।सेंसेक्स की शीर्ष 10 कंपनियों में रिलायंस इंडस्ट्रीज पहले स्थान पर कायम रही। उसके बाद क्रमश: टीसीएस, एचडीएफसी बैंक, आईसीआईसीआई बैंक, हिंदुस्तान यूनिलीवर, आईटीसी, इन्फोसिस, एसबीआई, एचडीएफसी और भारती एयरटेल का स्थान रहा।

मंगलवार, 22 नवंबर 2022

पेट्रोल-सीएनजी इंजन के मारुति सुजुकी मॉडल

पेट्रोल-सीएनजी इंजन के मारुति सुजुकी मॉडल

इकबाल अंसारी   

नई दिल्ली। अपनी दो बेहद लोकप्रिय कारों का न्यू जेनेरेशन मॉडल लॉन्च कर सकते हैं।इसमें मारुति सुजुकी स्विफ्ट हैचबैक और डिजायर कॉम्पैक्ट सेडान शामिल है। मारुति सुजुकी डिजायर अपने सेगमेंट की पहली ऐसी कार होगी जो स्ट्रॉन्ग हाइब्रिड के साथ आएगी। इस बार, कार निर्माता स्ट्रॉन्ग हाइब्रिड टेक्नोलॉजी और माइलेज पर खास ध्यान देगी।

ये दोनों मॉडल 2024 के पहले क्वार्टर तक मार्केट में आ जाएगी। नई मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक यह कार नए 1.2L पेट्रोल इंजन 3 सिलेंडर सेटअप के साथ आएगी। इस मोटर में टोयोटा के स्ट्रॉन्ग हाइब्रिड टेक का इस्तेमाल किया जाएगा।

नई मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक यह कार नए 1.2L पेट्रोल इंजन 3 सिलेंडर सेटअप के साथ आएगी। इस मोटर में टोयोटा के स्ट्रॉन्ग हाइब्रिड टेक का इस्तेमाल किया जाएगा। नई स्विफ्ट और डिजायर 35 से 40 किमी प्रति लीटर का एआरएआई-प्रमाणित माइलेज देगी। अगर ऐसा होता है तो दोनों मॉडल देश में सबसे ज्यादा माइलेज वाले वाहन बन जाएंगे। इस अपडेट के साथ, नई स्विफ्ट और डिजायर आगामी (कॉर्पोरेट एवरेज फ्यूल इकोनॉमी) स्टैंडर्ड्स को पूरा करेंगी।

सीएनजी ऑप्शन

वर्तमान में, Maruti Suzuki डिजायर 1.2 लीटर, 4-सिलेंडर K12N डुअलजेट पेट्रोल इंजन के साथ आता है जो स्विफ्ट में भी ड्यूटी करता है। इसे 5-स्पीड मैनुअल या एएमटी गियरबॉक्स के साथ रखा जा सकता है। कॉम्पैक्ट सेडान का मैनुअल वेरियंट 23.26kmpl का माइलेज दे सकती है और एटीएम वेरिएंट 24.12kmpl देता है। मौजूदा पेट्रोल इंजन और सीएनजी भी मारुति सुजुकी मॉडल लाइनअप पर उपलब्ध होगा।

गुरुवार, 14 जनवरी 2021

मंदे रूझान में सेंसेक्स 200 से ज्यादा अंक टूटा

अकांशु उपाध्याय  
मुंबई। घरेलू शेयर बाजार में गुरुवार को आरंभिक कारोबार के दौरान कारोबारी रुझान मंद बना हुआ था। बिकवाली के दबाव में सेंसेक्स 200 अंकों से ज्यादा टूटा और निफ्टी भी 14,500 के नीचे फिसला। सेंसेक्स सुबह 9.37 बजे पिछले सत्र से 232.57 अंकों यानी 0.47 फीसदी की कमजोरी के साथ 49,259.75 पर कारोबार कर रहा था जबकि निफ्टी 66.70 अंकों यानी 0.46 फीसदी टूटकर 14,498.15 पर बना हुआ था। मुनाफा वसूली के चलते शेयर बाजार में कारोबारी रुझान कमजोर बना हुआ था। बंबई स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) के 30 शेयरों पर आधारित प्रमुख संवेदी सूचकांक सेंसेक्स पिछले सत्र से 59.49 अंकों की कमजोरी के साथ 49,432.83 पर खुला और 49,255.55 तक फिसला जबकि उपरी स्तर 49,487.86 रहा।

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) के 50 शेयरों पर आधारित प्रमुख संवेदी सूचकांक निफ्टी पिछले सत्र से 14.80 अंकों की कमजोरी के साथ 14,550.05 पर खुला और आरंभिक कारोबार के दौरान 14,489.30 तक फिसला जबकि इसका उपरी स्तर 14,562.80 रहा।

'पीएम' मोदी ने अभिनेत्री रश्मिका की तारीफ की

'पीएम' मोदी ने अभिनेत्री रश्मिका की तारीफ की अकांशु उपाध्याय  नई दिल्ली। नेशनल क्रश रश्मिका मंदाना सिर्फ साउथ सिनेमा का ही नहीं, अब ...