बुधवार, 7 दिसंबर 2022

नगर निगम चुनाव में हर तरह के हथकंडे अपनाए

नगर निगम चुनाव में हर तरह के हथकंडे अपनाए

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। नगर निगम चुनाव की मतगणना के नतीजों पर अपनी खुशी जताते हुए राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने भारतीय जनता पार्टी के ऊपर करारा हमला बोलते हुए कहा है कि बीजेपी नेताओं ने दिल्ली नगर निगम चुनाव में हर तरह के हथकंडे अपनाए हैं। लेकिन दिल्ली की जनता ने विधानसभा के बाद अब नगर निगम के चुनाव में भी बीजेपी को ठुकरा दिया है। जिसके चलते बीजेपी को हार झेलने को विवश होना पड़ रहा है। बुधवार को आम आदमी पार्टी के राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने कहा है कि भारतीय जनता पार्टी ने नगर निगम चुनाव को लेकर हर तरह की डर्टी पॉलिटिक्स की है।

सारे हथकंडे बीजेपी द्वारा नगर निगम चुनाव में जीत हासिल करने के लिए अपनाए गए। लेकिन जनता के आगे उसकी एक नहीं चली और इसी के चलते उसे अब हार का मुंह देखना पड़ रहा है। उन्होंने कहा है कि पिछले पंद्रह सालों से नगर निगम की सत्ता पर काबिज भारतीय जनता पार्टी ने अपने राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा के अलावा 8 मुख्यमंत्री, सैकड़ों सांसद तथा 17 केंद्रीय मंत्री नगर निगम चुनाव को लेकर लगा दिए।

तमाम संसाधन झोंकने के बावजूद दिल्ली के लोगों ने साफ संदेश दिया है कि दिल्ली का बेटा अरविंद केजरीवाल कट्टर इमानदार है। इसी के चलते भारतीय जनता पार्टी के लोग पिछली बार के मुकाबले इस बार 80 से 90 सीटें हार रहे हैं। फिर भी बेशर्मी से बयान दे रहे हैं।

सर्दियों में होने वाली समस्याओं से छुटकारा, जानिए 

सर्दियों में होने वाली समस्याओं से छुटकारा, जानिए 

सरस्वती उपाध्याय 

ठंड का मौसम अपने साथ कई तरह की चुनौतियां लेकर आता है। इस मौसम गले में दर्द ,खराश, सर्दी और जुकाम होना काफी आम है। लेकिन अगर आपको ये बार-बार हो और आप इसका सही तरह से इलाज ना करें तो कई बार इसकी वजह से आपको ज्यादा परेशानी भी हो सकती है। हालांकि कुछ घरेलू उपायों से आप सर्दियों में होने वाली इन समस्याओं से छुटकारा पा सकते हैं। सर्दियों में लहसुन का इस्तेमाल जरूर करना चाहिए। इसमें एलिसिन नामक तत्व होता है, जो एंटी-इंफ्लेमेटरी गुणों से भरपूर है। ये आपके गले में खराश पैदा करने वाले बैक्टीरिया को मारते हैं। इसके अलावा लहसुन आपको सर्दी से निजात दिलाने में भी मदद कर सकता है।

सर्दियों के मौसम में गर्मागर्म चाय पीने का मजा ही अलग होता है। लेकिन अगर आपके गले में दर्द हो रहा है, तो चाय आपको इससे राहत दिला सकती है। इसके लिए चाय बनाते वक्त उसमें अदरक और काली मिर्च जरूर मिलाएं। इससे आपके गले का दर्द और खराश दोनों दूर हो जाएंगी। साथ ही इससे आपके शरीर को गर्माहट भी मिलेगी। चाय में तुलसी के पत्ते डालकर पीना भी काफी फायदेमंद होता है।

गले में दर्द और खराश के लिए मुलेठी भी काफी अच्छी होती है। इसके लिए एक मुलेठी के टुकड़े को दांतों के बीच में रखें और धीरे-धीरे इसे चबाते हुए इसका जूस पीएं। मुलेठी का जूस धीरे-धीरे आपके गले की खराश को दूर करता है और इससे खांसी कम होती है। ये आपको काफी हैरान कर सकता है। लेकिन सर्दियों के मौसम में ठंडी स्मूदी पीने से आपको गले में खराश और दर्द की समस्या से छुटकारा मिल सकता है। स्मूदी में जरूरी मिनरल्स और विटामिन मौजूद होते हैं। स्मूदी में आप फ्रेश फ्रूट्स, ओटमील, अदरक, एक चुटकी हल्दी, पानी और प्लांट बेस्ड मिल्क और आइस क्यूब्स का इस्तेमाल कर सकते हैं।

ओटमील में भरपूर मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट्स, जिंक और मैग्नीशियम पाया जाता है। साथ ही ओटमील सेहत के लिए भी काफी फायदेमंद साबित होता है। इसमें आप मैश किए हुए केले को भी शामिल कर सकते हैं। ओटमील में शहद, दालचीनी पाउडर और थोड़ा सा अदरक मिलाकर खाने से शरीर को एक-साथ कई फायदे मिलते हैं।

आयुर्वेद में शहद का इस्तेमाल दवाई के तौर पर किया जाता है। शहद में एंटी- इंफ्लेमेटरी और एंटी- बैक्टीरियल गुण पाए जाते हैं। शहद का इस्तेमाल आप चाय या स्मूदी में कर सकते हैं। शहद गले में दर्द को दूर करने में बहुत फायदेमंद है।

राशि अपने खाते में ब्लॉक करने एवं भुगतान की सुविधा 

राशि अपने खाते में ब्लॉक करने एवं भुगतान की सुविधा 

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। लोगों को जल्दी ही होटल बुकिंग, पूंजी बाजार में शेयरों की खरीद-बिक्री जैसे विभिन्न लेन-देन के लिये यूपीआई (यूनिफाइड पेमेंट इंटरफेस) के जरिये राशि अपने खाते में ब्लॉक करने और भुगतान करने की सुविधा मिलेगी। भारतीय रिजर्व बैंक ने बुधवार को यूपीआई में एकबारगी राशि ब्लॉक करने और उसे अलग-अलग कार्यों के लिये काटे जाने (सिंगल ब्लॉक एंड मल्टीपल डेबिट) की सुविधा देने की घोषणा की। ग्राहक जब भी आवश्यक हो पैसा काटे जाने के लिए अपने बैंक खातों में धनराशि निर्धारित कर संबंधित इकाई के लिये भुगतान को तय कर सकते हैं। 

केंद्रीय बैंक के अनुसार, इस व्यवस्था से ई-कॉमर्स और प्रतिभूतियों में निवेश के लिये भुगतान आसान होगा। आरबीआई के गवर्नर शक्तिकांत दास ने द्विमासिक मौद्रिक नीति समीक्षा की जानकारी देते हुए कहा,  यूपीआई की क्षमता बढ़ाकर ग्राहकों को सेवाओं के एवज में भुगतान के लिये राशि अपने खाते में ब्लॉक करने की सुविधा देने का निर्णय किया गया है। इससे ई-कॉमर्स और प्रतिभूतियों में निवेश को लेकर भुगतान सुगम होगा।

इस व्यवस्था के तहत ग्राहकों को सेवाओं के एवज में भुगतान के लिये राशि अपने खाते में ब्लॉक करने की सुविधा मिलेगी और जब भी आवश्यकता हो, संबंधित राशि खाते से काटी जा सकती है। इस सुविधा का उपयोग होटल बुकिंग, पूंजी बाजार में प्रतिभूतियों के साथ-साथ सरकारी प्रतिभूतियों की खरीद में किया जा सकता है। प्रतिभूति खरीदने के लिये केंद्रीय बैंक की खुदरा प्रत्यक्ष योजना के जरिये इसका उपयोग किया जा सकता है। 

बयान के अनुसार, इससे लेन-देन में भरोसा बढ़ेगा क्योंकि कारोबारियों को समय पर भुगतान का भरोसा मिलेगा। वहीं वस्तु या सेवाएं मिलने तक राशि ग्राहक के खाते में पड़ी होगी। यूपीआई के जरिये फिलहाल निर्धारित समय पर होने वाले लेन-देन और सिंगल-ब्लॉक-एंड-सिंगल-डेबिट की सुविधा है। मासिक आधार पर 70 लाख से अधिक स्वत: भुगतान सुविधा का प्रबंधन यूपीआई के जरिये हो रहा है। वहीं आधे से अधिक आरंभिक सार्वजनिक निर्गम (आईपीओ) आवेदनों का प्रसंस्करण यूपीआई में रकम ‘ब्लॉक’ करने की सुविधा से हो रहा है। 

आरबीआई ने कहा कि इस बारे में भारतीय राष्ट्रीय भुगतान निगम (एनपीसीआई) को जल्दी ही निर्देश जारी किया जाएगा। दास ने भारत बिल भुगतान प्रणाली (बीबीपीएस) में सभी भुगतान और संग्रह शामिल कर इसका दायरा बढ़ाने की भी घोषणा की। अभी, बीबीपीएस के पास अलग-अलग समय पर होने वाले भुगतान या व्यक्तियों को मिलने वाली राशि के भुगतान की सुविधा नहीं है, भले ही उसका भुगतान निश्चित समय पर करने की जरूरत क्यों न हो। 

दास ने कहा कि इसके परिणामस्वरूप पेशेवर सेवा शुल्क भुगतान, शिक्षा शुल्क, कर भुगतान, किराया संग्रह इसके दायरे में नहीं है। दास ने कहा कि नई प्रणाली बीबीपीएस मंच को व्यक्तियों और व्यवसायों के व्यापक समूह के लिए सुलभ बनाएगी। इस संदर्भ में रिजर्व बैंक अलग से दिशानिर्देश जारी करेगा। 

आर्थिक विकास अनुमान को 6.8 प्रतिशत किया

आर्थिक विकास अनुमान को 6.8 प्रतिशत किया

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। भारतीय रिजर्व बैंक ने घरेलू और वैश्विक चुनौतियों का हवाला देते हुये चालू वित्त वर्ष के आर्थिक विकास अनुमान को अपने पहले के सात प्रतिशत से कम कर 6.8 प्रतिशत करते हुए बुधवार को कहा कि इसके बावजूद भारतीय अर्थव्यवस्था दुनिया में सबसे तेजी से बढ़ेगी क्योंकि इसकी नींव मजबूत है। रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने मौद्रिक नीति समिति की द्विमासिक समीक्षा बैठक में लिये गये निर्णय की जानकारी देते हुये यह अनुमान जताया। उन्होंने कहा कि रबी की बेहतर बुवाई हुयी है। शहरी क्षेत्रों में मांग बढ़ रही है लेकिन ग्रामीण क्षेत्रों में अभी भी सुस्ती बनी हुयी है।

ऋण उठाव में तेजी आ रही है और सरकारी पूंजी व्यय में बढोतरी से निवेश में सुधार हो रहा है। रिजर्व बैंक के सर्वक्षण में उपभोक्ता धारणा में सुधार हुआ है। हालांकि भूराजनैतिक तनाव, वैश्विक वित्तीय स्थिति में आ रही संकुचन और बाहरी मांग में नरमी जैसी चुनौतियां आ रही है। इन सभी बातों को ध्यान में रखते हुये चालू वित्त वर्ष के विकास अनुमान को पहले के साथ 7.0 प्रतिशत से कम कर 6.8 प्रतिशत कर दिया गया है। इसी आधार पर चालू वित्त वर्ष की तीसरी तिमाही में विकास दर 4.4 प्रतिशत और चौथी तिमाही में 4.2 प्रतिशत रहने का अनुमान है।

अगले वित्त वर्ष की पहली तिमाही में इसके 7.1 प्रतिशत और दूसरी तिमाही में 5.9 प्रतिशत पर रहने की संभावना है। उन्होंने कहा कि घरेलू स्तर पर चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में विकास दर 6.3 प्रतिशत रही है जबकि पहली तिमाही में यह 13.5 प्रतिशत रही थी। हालांकि तीसरी तिमाही से इसमें तेजी आने का अनुमान है। 

उन्होंने कहा कि वैश्विक आर्थिक परिदृष्य नरम दिख रहा है। वैश्विक विकास में सुस्ती आ रही है क्योंकि मौद्रिक नीति के कारण वित्तीय संकुचन की स्थिति बन गयी और जीवनयापन की लागत बढ़ने से उपभोक्ता धारणा भी कमजोर हो रही है। प्रमुख देशों में महंगाई उच्चतम स्तर पर है। हालांकि हाल के दिनों में कीमतों में कुछ नरमी आयी है।

सीएम ने परियोजनाओं का लोकार्पण-शिलान्यास किया 

सीएम ने परियोजनाओं का लोकार्पण-शिलान्यास किया 

संदीप मिश्र 

शाहजहांपुर। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को शाहजहांपुर में 308.18 करोड़ रुपए की परियोजनाओं का लोकार्पण और शिलान्यास किया। इस दौरान उन्होंने प्रबुद्धजन सम्मेलन को संबोधित किया और 15 लाभार्थियों को प्रमाण पत्र प्रदान किए।

सीएम योगी ने कहा कि सरकारें जिस विजन के अनुसार 2017 के पहले कार्य करती थी उसमें विकास की कोई सोच नहीं थी। हर कार्य बस औपचारिकता का निर्वहन करने के लिए किया जाता था। सीएम बुधवार को 2.18 बजे शाहजहांपुर के खिरनीबाग रामलीला में मैदान में आयोजित प्रबुद्ध वर्ग सम्मेलन को संबोधित किया। मंच पर कैबिनेट मंत्री सुरेश खन्ना, जितिन प्रसाद, कपिल अग्रवाल और सहकारिता मंत्री जेपीएस राठौर मौजूद रहे।

'गुजरात' विधानसभा चुनावों की मतगणना आज होगी

'गुजरात' विधानसभा चुनावों की मतगणना आज होगी

इकबाल अंसारी 

अहमदाबाद। गुजरात विधानसभा चुनावों की मतगणना गुरुवार को होगी। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) शासित इस राज्य के 33 जिलों की 182 विधानसभा सीटों के लिए चुनाव दो चरणों में एक दिसंबर और पांच दिसंबर को हुआ था। एक अधिकारी ने बताया कि 182 विधानसभा सीटों के लिए 37 मतगणना केंद्रों पर गुरुवार सुबह आठ बजे वोटों की गिनती शुरू होगी। गुजरात में परंपरागत रूप से भाजपा और कांग्रेस के बीच मुकाबला रहा है। 

हालांकि, इस बार आम आदमी पार्टी (आप) के चुनाव मैदान में उतरने से राज्य में त्रिकोणीय मुकाबला देखने को मिला। चुनाव बाद के सर्वेक्षणों में गुजरात में भाजपा के लगातार सातवीं बार सरकार बनाने का अनुमान जताया गया है। सत्तारूढ़ दल के 117 से 151 सीटों पर जीत दर्ज करने की संभावना जताई गई है, जबकि कांग्रेस को 16 से 51 सीटें मिलने का अनुमान लगाया गया है। वहीं, आप को दो से 13 सीटें मिल सकती हैं। गुजरात में बहुमत के लिए 92 सीटों पर जीत जरूरी है। गुजरात में इस साल 66.31 फीसदी मतदान दर्ज किया गया था, जो 2017 के विधानसभा चुनावों में पड़े 71.28 प्रतिशत वोटों से कम है। 

मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल, आप के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार इसुदान गढ़वी, युवा नेता हार्दिक पटेल, जिग्नेश मेवाणी और अल्पेश ठाकोर समेत कुल 1,621 उम्मीदवारों की किस्मत का फैसला गुरुवार को होगा। गुजरात चुनाव में कुल 70 राजनीतिक दलों और 624 निर्दलीय उम्मीदवारों ने भाग्य आजमाया है।

विवाद: महाराष्ट्र के खिलाफ षड्यंत्र का आरोप, मांग

विवाद: महाराष्ट्र के खिलाफ षड्यंत्र का आरोप, मांग

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। महाराष्ट्र और कर्नाटक के बीच सीमा विवाद की पृष्ठभूमि में राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) की सांसद सुप्रिया सुले ने महाराष्ट्र के खिलाफ षड्यंत्र का आरोप लगाते हुए बुधवार को लोकसभा में सरकार से जवाब देने की मांग की। वहीं, भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के एक सदस्य ने कहा कि यह मामला उच्चतम न्यायालय में विचाराधीन है और इस पर सदन में कोई बात नहीं होनी चाहिए।

शून्यकाल में इस विषय को उठाते हुए सुले ने कहा कि महाराष्ट्र में दस दिन से नया संकट पैदा हो गया है और पड़ोसी राज्य कर्नाटक की सीमा पर महाराष्ट्र से जाने वाले लोगों को मंगलवार को पीटा गया है। उन्होंने कहा, ‘‘ऐसा नहीं चलेगा। यह देश एक है।’’ उन्होंने आरोप लगाया कि कर्नाटक के मुख्यमंत्री इस विषय पर अनुचित बातें बोल रहे हैं और महाराष्ट्र तोड़ने की बात की जा रही है। राकांपा सांसद ने कहा कि दोनों ही राज्यों में भाजपा की सरकारें हैं और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को सदन में इस विषय पर जवाब देना चाहिए।

उद्धव ठाकने नीत शिवसेना के सांसद विनायक राउत ने भी इस विषय को उठाया। कर्नाटक से भाजपा के सांसद शिवकुमार उदासी ने कहा कि यह मामला उच्चतम न्यायालय में विचाराधीन है और किसी सदस्य को इस मामले में बोलने की अनुमति नहीं दी जानी चाहिए। उन्होंने यह आरोप भी लगाया कि जब भाषा और संस्कृति की बात आती है तो खासकर महाराष्ट्र के कुछ नेताओं की ऐसी बातें करने की पुरानी आदत रही है। लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने कहा कि यह संवेदनशील और दो राज्यों के बीच का विषय है जिसे यहां नहीं उठाया जाना चाहिए। उन्होंने कहा, ‘‘यह दो राज्यों का विषय है, इसमें केंद्र क्या करेगा। इसे यहां नहीं उठाया जाना चाहिए।’’

खसरा को 'दुनिया के लिए आसन्न खतरा' घोषित किया

खसरा को 'दुनिया के लिए आसन्न खतरा' घोषित किया

अखिलेश पांडेय 

लंदन। महामारी का एक परिणाम नियमित स्वास्थ्य सेवा तक पहुंच कम होना और कम टीकाकरण था। लिहाजा, नवंबर 2022 में, विश्व स्वास्थ्य संगठन ने खसरा को "दुनिया के हर क्षेत्र के लिए आसन्न खतरा" घोषित किया। उन्होंने इस बात का खुलासा किया कि कैसे लगभग चार करोड़ बच्चों की रिकॉर्ड संख्या 2021 में कम से कम एक खसरे के टीके की खुराक लेने से चूक गई थी। खसरा एक वायरल श्वसन रोग है। यह कोविड की तरह लोगों के बीच सांस के जरिए निकलने वाली सूक्ष्म बूंदों और एरोसोल (एयरबोर्न ट्रांसमिशन) से फैलता है। संक्रमण हल्के मामलों में दाने और बुखार पैदा करता है। लेकिन गंभीर मामलों में एन्सेफलाइटिस (मस्तिष्क में सूजन), अंधापन और निमोनिया शामिल हो सकते हैं। एक वर्ष में लगभग 90 लाख मामले और 128,000 मौतें होती हैं। खसरे की वैक्सीन, जिसे अकेले या एमएमआर के तहत विभिन्न बीमारियों के लिए एक साथ किए जाने वाले टीकाकरण के तहत लिया जा सकता है, बहुत प्रभावी है। अधिकांश देशों में इसकी दो खुराक दी जाती है, पहली खुराक आमतौर पर 12 महीने की उम्र में दी जाती है और दूसरी खुराक जब बच्चा चार साल का होता है। 

टीका बहुत उच्च और लंबे समय तक चलने वाली सुरक्षा प्रदान करता है, और वास्तव में वैक्सीन के जरिए टाले जा सकने वाले रोग शब्द का एक आदर्श उदाहरण है। दो-खुराक कार्यक्रम खसरे के संक्रमण से लगभग 99% सुरक्षा प्रदान करता है। विकासशील देशों में जहां टीकों का उपयोग कम है, खसरे से पीड़ित दस में से एक की इससे मृत्यु हो जाती है। विकसित देशों में, 1,000 से 5,000 खसरे के मामलों में लगभग एक की दर से और वह भी अधिकांशत: गैर-टीकाकरण वाले लोगों की मृत्यु होती है। संघर्ष क्षेत्रों और शरणार्थी आबादी जैसे क्षेत्रों में टीका-रोकथाम योग्य बीमारियों के नए प्रकोप की संभावना अधिक है। 

कुपोषण जैसी समस्याएं गंभीर बीमारी के जोखिम को बहुत बढ़ा देती हैं, और श्वसन संबंधी संक्रामक रोग यूक्रेनी शरणार्थियों जैसे कमजोर समूहों के लिए काम करने वाले मानवतावादी समूहों के लिए एक बड़ी चिंता है। खसरा अविश्वसनीय रूप से संक्रामक है। इसकी मूल प्रजनन संख्या (आरओ) - यानी, एक अतिसंवेदनशील आबादी में एक संक्रमित व्यक्ति औसतन कितने लोगों को संक्रमित करेगा - 12 और 18 के बीच होने का अनुमान है। तुलना के लिए, ओमिक्रॉन कोरोना संस्करण का आरओ लगभग 8.2 माना जाता है। 

प्रकोप को नियंत्रण में रखने और एक समुदाय के आसपास आगे संचरण को कम करने के लिए जनसंख्या के अनुपात को टीकाकरण की आवश्यकता होती है जिसे प्रतिरक्षा सीमा (एचआईटी) के रूप में जाना जाता है। खसरे के लिए, 95% वैक्सीन कवरेज को आमतौर पर हिट मैजिक नंबर माना जाता है। दुनिया का अधिकांश हिस्सा उस सीमा से नीचे है, जिसमें दो खुराक के लिए लगभग 71% और एक खुराक के कवरेज के लिए 81% का वैश्विक कवरेज है। 

यूके में, 2021-22 के आंकड़ों से पता चलता है कि 89% बच्चों को खसरे के टीके की एक खुराक मिली थी। विश्व स्तर पर, पाँच वर्ष से कम आयु के बच्चों में सभी कारणों से होने वाली मौतों को कम करने में महत्वपूर्ण प्रगति हुई है। वार्षिक मृत्यु 1990 में एक करोड़ 25 लाख से घटकर 2019 में 52 लाख हो गई। हालांकि, कम टीका कवरेज उन लाभों को उलट सकता है। 

टीकाकरण का विरोध करने वाले झूठी अफवाहें और डराने वाली कहानियां फैलाते हैं, जैसे कि पूर्व चिकित्सक और वैक्सीन विरोधी कार्यकर्ता एंड्रयू वेकफील्ड का यह नकली दावा कि एमएमआर वैक्सीन ऑटिज्म का कारण बनता है। लोग इस तरह के दावों पर विश्वास करने लगते हैं। उदाहरण के लिए, 2020 में एक अमेरिकी जनसंख्या सर्वेक्षण में कहा गया, हमारे 18% उत्तरदाताओं ने कहा कि यह कहना बहुत या कुछ हद तक सही है कि टीके ऑटिज़्म का कारण बनते हैं।

कोविड महामारी की शुरुआत के बाद से गलत सूचना व्यापक रही है। और इस गलत सूचना के आगे चलकर नियमित टीकाकरण के प्रति हिच-किचाहट और टीके से इनकार के बड़े स्तर में तब्दील होने का जोखिम है। खसरा आसानी से फैलता है और बिना टीके वाली आबादी में छोटी और लंबी अवधि का गंभीर संक्रमण हो सकता है। 

दुनिया भर में टीके से रोकी जा सकने वाली बीमारियों से तेजी से बचाव के लिए टीकाकरण अभियानों की बहुत आवश्यकता है। यह अभियान विशेष रूप से विकासशील देशों और अन्य कमजोर आबादी जैसे कि शरणार्थियों और संघर्ष के क्षेत्रों में चलाना और भी ज्यादा जरूरी है।

चुनावों में जीत के लिए लोगों का शुक्रिया अदा किया 

चुनावों में जीत के लिए लोगों का शुक्रिया अदा किया 

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। एमसीडी चुनावों में आम आदमी पार्टी (आप) की जीत के लिए दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने लोगों का शुक्रिया अदा किया और नागरिक सुविधाओं में सुधार के लिए भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और कांग्रेस के साथ-साथ केंद्र और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का 'आशीर्वाद' मांगा। आप के राष्ट्रीय संयोजक ने बुधवार को यहां भारत को दुनिया का नंबर एक देश बनाने के लिए देश में सकारात्मक राजनीति की वकालत की।

यहां दीन दयाल उपाध्याय मार्ग स्थित आप के मुख्यालय में पार्टी की जीत के बाद अपने संबोधन में केजरीवाल ने कहा, हम सभी को दिल्ली की हालत सुधारनी है और मुझे भाजपा और कांग्रेस सहित सभी के सहयोग की आवश्यकता है। हमें ऐसा करने के लिए सभी के सहयोग की जरूरत है, खासकर केंद्र और प्रधानमंत्री की मदद और आशीर्वाद की।

दिल्ली नगर निगम (एमसीडी) चुनाव में सभी 250 सीटों के परिणाम घोषित कर दिये गये है। राज्य निर्वाचन आयोग के मुताबिक आप ने 134 तो भाजपा ने 104 और कांग्रेस ने नौ सीटों पर जीत दर्ज की। चुनाव में तीन निर्दलीय उम्मीदवार भी विजयी रहे। आप की इस जीत से एमसीडी में भाजपा का 15 साल का शासन भी खत्म हो गया। पार्टी मुख्यालय में जीत के जश्न में पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान और दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया भी मौजूद रहे। 

'परीक्षाएं' सिर्फ हिंदी में संचालित करने का प्रस्ताव नहीं

'परीक्षाएं' सिर्फ हिंदी में संचालित करने का प्रस्ताव नहीं

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। सरकार ने बुधवार को राज्यसभा में कहा कि कर्मचारी चयन आयोग (एसएससी) की परीक्षाएं सिर्फ हिंदी में ही संचालित किए जाने का कोई प्रस्ताव नहीं है। गृह राज्य मंत्री अजय कुमार मिश्रा ने एक सवाल के लिखित जवाब में राज्यसभा को यह जानकारी दी। इसके साथ ही, उन्होंने केंद्र सरकार के सभी कार्यालयों और संस्थानों में हिंदी को अनिवार्य किए जाने की बात से भी इनकार किया। उन्होंने कहा, एसएससी की कोई परीक्षा केवल हिंदी में आयोजित करने का कोई प्रस्ताव नहीं है। 

मिश्रा ने कहा, राष्ट्रीय शिक्षा नीति (2020) में यह परिकल्पना की गई है कि शिक्षा के माध्यम के रूप में मातृभाषा या स्थानीय भाषा का प्रयोग करते हुए उच्चतर शिक्षा में पहले से अधिक शैक्षणिक कार्यक्रम उपलब्ध कराए जाएं... और सभी भारतीय भाषाओं की शक्ति, उपयोग एवं जीवंतता को भी बढ़ावा दिया जा सके। उन्होंने कहा कि संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) और कर्मचारी चयन आयोग (एसएससी) केंद्र सरकार की प्रमुख भर्ती एजेंसियां हैं एवं दोनों आयोगों द्वारा आयोजित प्रारंभिक परीक्षाओं में हिंदी और अंग्रेजी में बहुविकल्पीय वस्तुनिष्ठ प्रकार के प्रश्न शामिल होते हैं, जिसमें उम्मीदवार को उपयुक्त उत्तर पर टिक मार्क लगाना होता है। 

मंत्री ने कहा, एसएसी द्वारा आयोजित परीक्षाओं का माध्यम सामान्यत: हिंदी एवं अंग्रेजी होता है। हालांकि मल्टी-टास्किंग (गैर-तकनीकी) कर्मचारी परीक्षा का परीक्षा पत्र-2 संविधान की आठवीं अनुसूची में शामिल सभी भाषाओं में संचालित किया जाता है।

सीएम नीतीश को इस्तीफा दे देना चाहिए: चौबे  

सीएम नीतीश को इस्तीफा दे देना चाहिए: चौबे  

अविनाश श्रीवास्तव 

पटना। उपभोक्ता मामलों, खाद्य और सार्वजनिक वितरण मंत्रालय के केंद्रीय राज्य मंत्री अश्विनी चौबे का कहना है कि बिहार के मुख्यमंत्री नपुंसकता के शिकार हो गए हैं। बिहार सरकार नपुंसक हो गई है। उन्‍होंने कहा कि बिहार सरकार बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार नपुंसकता के शिकार हो गए हैं। इस लिए बिहार में अपराधियों के हौसले बुलंद हैं। बिहार में महिलाओं को जला कर मार दिया जा रहा है। मां बेटी की हत्‍या कर दी जा रही है। 

राज्य मंत्री अश्विनी चौबे ने कहा कि अरवल के अंदर दो-दो हत्याएं हुई। अपराधी गलत नीयत से घर में घुसे और मां-बेटी को जलाकर मार दिया। चौबे ने कहा कि अपराधियों का मनोबल इतना बढ़ा हुआ है कि वो किसी घटना को अंजाम देने से पहले सोच भी नहीं रहे हैं। घटना में दोनों मां-बेटी पर पेट्रोल डालकर उनकी हत्या कर दी गई। यह बिहार में क्या हो रहा है?

राज्‍य मंत्री ने बिहार के मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार पर हमला बोलते हुए कहा कि बिहार में एक बार फिर से जंगल राज की वापसी हो गई है। नीतीश कुमार के राज में बिहार में जंगलराज एक बार फिर से आ गया है। उन्‍होंने कहा कि सरकार संवेदनहीन हो गई है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को इस्तीफा देना चाहिए। वह बिहार के अंदर जंगलराज की वापसी करा कर अपना पीठ थपथपा रहे।

भागलपुर के पीरपैंती में नीलम देवी की नाम की महिला की शकील अहमद नाम की म‍हिला की नृशंस हत्या पर राज्य मंत्री अश्विनी चौबे ने नीतीश कुमार पर हमला बोला। सरकार पर हमलावर होते हुए उन्होंने कहा कि पूरे बिहार में लगातार बड़ी घटनाएं हो रही हैं अपराधियों का मनोबल बढ़ा हुआ है। चौबे ने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को इस्तीफा दे देना चाहिए और मुख्यमंत्री के पद से इस्तीफा देकर तपस्वी हो जाना चाहिए।

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण


1. अंक-57, (वर्ष-06)

2. बृहस्पतिवार, दिसंबर 08, 2022

3. शक-1944, मार्गशीर्ष, शुक्ल-पक्ष, तिथि-पूर्णिमा, विक्रमी सवंत-2079‌।

4. सूर्योदय प्रातः 06:44, सूर्यास्त: 05:24। 

5. न्‍यूनतम तापमान- 11 डी.सै., अधिकतम- 20+ डी.सै.।

6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है। 

7.स्वामी, मुद्रक, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम व शिवांशु, (विशेष संपादक) श्रीराम व सरस्वती (सहायक संपादक) संरक्षण-अखिलेश पांडेय, ओमवीर सिंह, वीरसैन पवार, योगेश चौधरी आदि के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी।

8. संपर्क व व्यवसायिक कार्यालय- चैंबर नं. 27, प्रथम तल, रामेश्वर पार्क, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102। 

9. पंजीकृत कार्यालयः 263, सरस्वती विहार लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102

http://www.universalexpress.page/ www.universalexpress.in 

email:universalexpress.editor@gmail.com 

संपर्क सूत्र :- +919350302745--केवल व्हाट्सएप पर संपर्क करें, 9718339011 फोन करें।

(सर्वाधिकार सुरक्षित)

गणतंत्र दिवस    'संपादकीय'

गणतंत्र दिवस    'संपादकीय' 'भारत' देश है हमारा, संविधान पर विवाद नहीं। 'सभ्यता' सबसे पहले आई, ...