शुक्रवार, 18 सितंबर 2020

गूगल ने प्ले स्टोर से पेटीएम को हटाया

 गूगल ने प्ले स्टोर से पेटीएम को हटाया।


नई दिल्ली। गूगल ने अपनी पारदर्शी व अपराध विरोधी नीतियों का उल्लंघन करने के लिए प्ले स्टोर से लोकप्रिय भारतीय वित्तीय सेवा ऐप पेटीएम को हटा दिया है। पेटीएम भारत का सबसे तेजी से ग्रोथ करने वाला स्टार्टअप है। पे टीएम 50 मिलियन मासिक सक्रिय उपयोगकर्ताओं का दावा करता है।
पेटीएम उपयोगकर्ताओं को एक दूसरे के साथ पैसे का आदान-प्रदान करने की अनुमति देता है।भारत में शुक्रवार को पेटीएम प्ले स्टोर से गायब हो गया।गूगल ने कहा है।कि उसका प्ले स्टोर ऑनलाइन कैसीनो और अन्य अनियमित जुआ ऐप्स को अनुमति नहीं देता। ऐसे एप भारत में सट्टेबाजी की सुविधा प्रदान करते हैं।
एंड्रॉइड-निर्माता जो अधिकांश अन्य बाजारों में समान दिशा-निर्देशों को बनाए रखता है। इसके अतिरिक्त यह ध्यान दिया जाता है ।कि यदि कोई ऐप उपभोक्ताओं को बाहरी वेबसाइट पर ले जाता है। जो उन्हें असली पैसे जीतने के लिए भुगतान किए गए। टूर्नामेंट में भाग लेने की अनुमति देता है या नकद पुरस्कार देता है। इससे गूगल की नीतियों का उल्लंघ्न होता है।                


विश्व में संक्रमतो की संख्या 3 करोड़ के पार

विश्व में कोविड-19 के मामले तीन करोड़ के पार।


वाशिंगटन। वैश्विक स्तर पर कोरोना वायरस मामलों की कुल संख्या 3 करोड़ का आंकड़ा पार कर गई है, जबकि इससे होने वाली मौतों की संख्या बढ़कर 944,000 से अधिक हो गई है। यह जानकारी जॉन्स हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी ने शुक्रवार को दी। विश्वविद्यालय के सेंटर फॉर सिस्टम साइंस एंड इंजीनियरिंग (सीएसएसई) ने अपने नए अपडेट में खुलासा किया कि शुक्रवार की सुबह तक, कुल मामलों की संख्या 30,065,728 हो गई और मृतकों की संख्या बढ़कर 944,604 हो गई।
सीएसएसई के अनुसार, दुनिया में सबसे अधिक संक्रमण के मामलों 6,674,070 और इससे हुई 197,615 मौतों के साथ अमेरिका सबसे खराब स्थिति वाला देश है। वहीं भारत 5,118,253 मामलों के साथ वर्तमान में दूसरे स्थान पर है, जबकि देश में संक्रमण से कुल मृत्यु 83,198 हुई है।
सीएसएसई के अनुसार, तीसरे स्थान पर ब्राजील (4,455,386) है और उसके बाद रूस (1,081,152), पेरू (744,400), कोलम्बिया (736,377), मैक्सिको (684,113), दक्षिण अफ्रीका (655,572), स्पेन (625,651), अर्जेंटीना (601,713), फ्रांस (454,266), चिली (441,150), ईरान (413,149), ब्रिटेन (384,083), बांग्लादेश (344,264), सऊदी अरब (328,144), इराक (307,385), पाकिस्तान (303,634), तुर्की (298,039), इटली (293,025), फिलीपींस (276,289), जर्मनी (269,048), इंडोनेशिया (232,628), इजरायल (175,256), यूक्रेन (170,373), कनाडा (142,879), बोलिविया (128,872), कतर (122,693), इक्वाडोर (122,257), रोमानिया (108,690), कजाकिस्तान (107,056), डोमिनिकन गणराज्य (106,136), पनामा (104,138) और मिस्र (101,641) हैं।
वहीं 10,000 से अधिक मौतों वाले अन्य देश ब्राजील (134,935), मैक्सिको (72,179), ब्रिटेन (41,794), इटली (35,658), फ्रांस (31,103), पेरू (31,051), स्पेन (30,405), ईरान (23,808), कोलंबिया (23,478), रूस (18,996), दक्षिण अफ्रीका (15,772), अर्जेंटीना (12,460), चिली (12,142) और इक्वाडोर (10,996) हैं।                     


मोदी ने खत्म की परिक्रमा संस्कृतिः नकवी

मोदी ने खत्म की ‘परिक्रमा संस्कृति’:नकवी।


नई दिल्ली। केंद्रीय अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सत्ता के गलियारे से ‘परिक्रमा संस्कृति’ खत्म कर ‘परिश्रम और परिणाम’ को प्रामाणिक बनाया, जिसने सत्ता के गलियारे से सत्ता के दलालों को ‘छू-मंतर’ कर दिया।
नकवी ने शुक्रवार को अपने ब्लॉग में लिखा कि सत्ता और सियासत के गलियारे में दशकों से परिक्रमा को ही ‘पराक्रम समझने वाले, ‘परिश्रम और परिणाम’ की कार्य संस्कृति के चलते हाशिये पर चले गए हैं। इसी ‘परिणामी मंतर’ ने सत्ता के गलियारे से सत्ता के दलालों को खत्म कर दिया।
उन्होंने कहा कि 2014 से पहले एयरपोर्ट पर प्रधानमंत्री को छोड़ने जाना-लेने जाना, मंत्रिमंडल के सदस्यों का ‘कर्मकांड’ माना जाता था, दशकों की यह व्यवस्था खत्म हुई; लाल बत्ती सरकार की धमक-धाक का हिस्सा थी, सामंती गुरुर वाली लाल बत्ती इतिहास का हिस्सा बन गई। सांसदों को सब्सिडी जन्मसिद्ध अधिकार लगता था, एक झटके में खत्म हुई। मंत्री-सांसद न रहने के बावजूद कुछ लोगों को सरकारी बंगलों पर कब्ज़ा रखना संवैधानिक अधिकार लगता था, उसे खत्म किया।
मंत्रालयों को मार्च से पहले बजट को उल-जुलूल तरीके से ख़त्म करना सरकार की प्राथमिकता थी, जिसके चलते उपयुक्त खर्च का प्रयास नहीं होता था, यह काम चलाऊ, दकियानूसी व्यवस्था खत्म हुई। प्रधानमंत्री, मंत्रियों, अधिकारियों के एक दिन के विदेशी दौरे के काम के लिए दस दिन सैर सपाटे और करोड़ों खर्च करने की व्यवस्था को खुद प्रधानमंत्री स्वयं के दौरों पर, केवल काम की सफर सीमा बांध कर, पूरी सरकार की सोंच में व्यापक परिवर्तन आये।
सरकारें बदलती थी, मंत्री बदलते थे पर वर्षों से मंत्रियों के निजी स्टाफ वही रहते थे, जिसका नतीजा होता था कि सत्ता के गलियारे में घूमने वाले दलाल और बिचौलिए उस निजी स्टाफ के जरिये बरकरार रहते थे, दस वर्षों से जमें निजी स्टाफ को मंत्रालय में रखने पर रोक लगाकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पेशेवर बिचौलियों के पर काट दिए।
केन्द्रीय मंत्री ने कहा पहले प्रधानमंत्री, सचिव और उसके नीचे के अधिकारियों से कभी संपर्क-संवाद नहीं करते थे, ग्राउंड रिपोर्ट की जानकारी से रूबरू नहीं होते थे, जिसे पीएम मोदी ने बदल कर मंत्रियों के साथ-साथ अधिकारियों से “संवाद संस्कृति” शुरू की, जिसके चलते नौकरशाही की जवाबदेही-जिम्मेदारी बढ़ी है। पदम् अवार्ड जैसे प्रतिष्ठित सम्मान जो पहले केवल सियासी सिफारिशों के जरिये दिए जाते थे, आज उन लोगों को यह सम्मान दिया जा रहा है जो वास्तव में इसके हक़दार हैं।               


पूर्व सैनिक के साथ घटना, राष्ट्रपति को ज्ञापन

 मुम्बई में पूर्व सैनिक के साथ हुई घटना के विरोध में राट्रपति को भेजा ज्ञापन।


अतीश द्विवेदी


लखीमपुर खीरी। पूर्व सैनिक सेवा परिषद लखीमपुर खीरी के अध्यक्ष अवनीश गुप्ता की अध्यक्षता मे शैलेंद्र कुमार सिंह जिलाधिकारी के माध्यम से राष्ट्रपति को ज्ञापन भेजा गया।
पूर्व सैनिक सेवा समिति ने ज्ञापन देकर बताया है कि मुम्बई के वरिष्ठ नागरिक एवं पूर्व नौसेना अधिकारी मदन शर्मा के साथ मारपीट एवं अपमानित किये जाने की घटना के विरोध मे जिले के समस्त सेवारत पूर्व सैनिकों तथा उनके परिवार के लोगो मे रोष व्याप्त है। पूर्व सैनिकों पर हो रहे दुस्साहसिक हमलो की कड़ी निंदा करते हुए दोषियो के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने की मांग की गई।
इस अवसर पर पूर्व सैनिक सेवा परिषद लखीमपुर खीरी के जिला मंत्री सूबेदार सेवानिवृत्त विनोद कुमार तिवारी विधिक सलाहकार कमलेश कुमार यादव अनूप कुमार मिश्र चन्द्रहास वर्मा बाबूराम राम अवतार आदि अनेक पूर्व सैनिक उपस्थित रहे।                     


ओसाका ने फ्रेंच ओपन से नाम वापस लिया

ओसाका ने फ्रेंच ओपन से नाम वापस लिया।


पेरिस। हाल ही में अमेरिकी ओपन खिताब जीतने वाली जापान की स्टार महिला टेनिस खिलाड़ी नाओमी ओसाका नें फ्रेंच ओपन से अपना नाम वापस ले लिया है। क्ले कोर्ट के इस ग्रैंड स्लैम टूर्नामेंट की शुरुआत पेरिस में 27 सितम्बर से हो रही है।
ओसाका ने न्यूयार्क में बीते सप्ताह अपने करियर का तीसरा ग्रैंड स्लैम खिताब जीता था। वह अभी हैमस्ट्रिंग इंजुरी से परेशान हैं।और इसी कारण उन्होंने फ्रेंच ओपन में नहीं खेलने का फैसला किया है।22 साल की ओसाका ने सोशल मीडिया के माध्यम से यह जानकारी साझा की। ओसाका ने लिखा दुर्भाग्य से मैं इस साल फ्रेंच ओपन में नहीं खेल पाउंगी। मेरा हैमस्ट्रिंग अच्छी स्थिति में नहीं है।और मेरे पास क्ले कोर्ट इवेंट के लिए तैयारी का भी वक्त नहीं है। मैं आयोजकों और खिलाड़ियों का शुभकामनाएं देती हूं।
ओसाका के अलावा वर्ल्ड नम्बर-1 और मौजूदा चैम्पियन एश्ले बार्टी ने भी इस साल फ्रेंच ओपन से दूर रहने। का फैसला किया है। बार्टी ने कहा है। कि वह स्वास्थ कारणों और तैयारी की कमी के कारण इस साल रोलां गैरों में नहीं खेल सकेंगी। फ्रेंच ओपन मूल रूप से मई में होता है।लेकिन कोरोना के कारण इसे सितम्बर-अक्टूबर में कराना पड़ रहा है।              


24 घंटे में गाजियाबाद में 191 संक्रमित मिलें

अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। राज्य स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी बुलेटिन के अनुसार पिछले 24 घंटों की अवधि में गाज़ियाबाद में 191 नए संक्रमितों की पहचान हुई है। इस दौरान 150 मरीजों को जिले के विभिन्न अस्पतालों से डिस्चार्ज किए गए। जिले में अब 2066 सक्रिय संक्रमित है।                     


यूपीः सार्वजनिक आयोजनों पर लगाई रोक

 वीरसेन पंवार


लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कोरोना काल में आने वाले त्योहारों के मद्देनजर पूरी सतर्कता बरते जाने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा है कि कोविड-19 को देखते हुए पर्वों के दौरान कोई सार्वजनिक आयोजन न किया जाए। त्योहारों को मनाने में सोशल डिस्टेंसिंग तथा मास्क का उपयोग अनिवार्य रूप से किया जाएं। मुख्यमंत्री ने यह बात शुक्रवार को कोविड 19 की स्थिति पर अधिकारियों संग बैठक में कही। सीएम ने कहा कि लखनऊ व कानपुर नगर में ठीक हो चुके कोरोना पॉजिटिव मरीजों की उपचार विधि का गहन अध्ययन किया जाए। अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य, जिला चिकित्सालयों में तथा अपर मुख्य सचिव चिकित्सा शिक्षा मेडिकल कॉलेजों व चिकित्सा संस्थानों में सफलतापूर्वक उपचारित रोगियों के इलाज के बारे में चिकित्सकों से विचार-विमर्श करें और स्वस्थ हुए रोगियों की दर में वृद्धि कराएं।


1.55 लाख से अधिक टेस्ट पर संतोष जताया


मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश में एक दिन में  01 लाख 55 हजार से अधिक टेस्ट की क्षमता अर्जित किए जाने पर संतोष व्यक्त किया है। उन्होंने कहा कि समय पर कोविड-19 के रोगी को उपचार के लिए अस्पताल पहुंचाने से उसका उपचार एल-1 श्रेणी के कोविड चिकित्सालय में ही किया जा सकता है। इसलिए कोंटेक्ट ट्रेसिंग की कार्यवाही पर विशेष ध्यान दिया जाना आवश्यक है। कोविड चिकित्सालयों में ऑक्सिजन तथा आवश्यक दवाओं की सुचारु उपलब्धता सुनिश्चित की जाए। प्रदेश के अस्पतालों में ऑक्सिजन की उपलब्धता के सम्बन्ध में कोई समस्या न हो। 


सभी जिलों के डीएम को निर्देश


मुख्यमंत्री ने कोविड-19 से बचाव तथा यातायात सुरक्षा के सम्बन्ध में लोगों को निरन्तर जागरूक किए जाने पर बल दिया। बैठक में अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी ने  मुख्यमंत्री को बताया कि पब्लिक एड्रेस सिस्टम के माध्यम से कोविड-19 तथा यातायात सुरक्षा के बारे में जनता को जागरूक करने के लिए सभील जिलाधिकारियों तथा वरिष्ठ पुलिस अधीक्षकों व पुलिस अधीक्षकों को निर्देशित कर दिया गया है।


जीएसीटी के लिए अधिक से अधिक पंजीयन हों


मुख्यमंत्री  ने जीएसटी के अन्तर्गत अधिक से अधिक पंजीयन के लिए कार्य योजना बनाने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि जीएसटी की चोरी न होने पाए। उन्होंने उद्योग बन्धु की बैठक करने तथा उद्यमियों एवं निवेशकों की समस्याओं का समाधान करने के निर्देश भी दिए है।                 


8 सीटों पर उपचुनाव लड़ेगी बसपाः यूपी

उप चुनावों में सभी 8 सीटों पर लड़ेगी बहुजन समाज पार्टी, सेक्टर प्रभारियों को मिली उम्मीदवार चुनने की ज़िम्मेदारी।


बृजेश केसरवानी


लखनऊ। उत्तर प्रदेश के प्रस्तावित विधानसभा उपचुनाव में बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) आठ सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारेगी। उम्मीदवारों के चयन और उनके नामों की घोषणा की जिम्मेदारी सेक्टर प्रभारियों को दी गई है। उपचुनाव के लिए खाली हुई सीटों में छह भाजपा और दो सपा की हैं। पार्टी का मानना है कि उप चुनाव में कामयाबी मिलने पर 2022 के आम चुनाव की तैयारी के लिए भाजपा विरोधी दलों के बीच अपनी हैसियत बताने का आधार मिल जाएगा।
आम चुनाव से पहले साख की परख।
हिंदुस्तान टाइम्स की खबर के अनुसार आम तौर पर उप चुनाव न लड़ने वाली बसपा विधानसभा उपचुनाव की आठों सीटों पर उम्मीदवार उतार कर अपनी की साख की परख करना चाहती है, जिससे कमियों को दूर करते हुए 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव में मजबूती के साथ मैदान में उतर सके। आपको बता दें कि भाजपा के बाद सपा और बसपा नंबर दो की पार्टी होने का दावा कर रही हैं। विधानसभा में बसपा से अधिक सदस्य संख्या सपा के पास है इसीलिए बसपा सुप्रीमो मायावती चाहती हैं कि विधानसभा उपचुनाव मजबूती से लड़ा जाए। बसपा सुप्रीमो का मानना है कि उप चुनाव में मिलने वाली सीट से जनाधार मजबूत होने की पुष्टि होगी। इसके आधार पर वह कह सकेंगी कि लोकसभा चुनाव में उनकी पार्टी में बेहतर प्रदर्शन किया और अब विधानसभा चुनाव में भी आगे रही।
उम्मीदवारों की घोषणा जल्द।
यूपी में फिरोजाबाद की टूंडला, रामपुर की स्वार, उन्नाव की बांगरमऊ, जौनपुर की मल्हनी, देवरिया की सदर, बुलंदशहर, कानपुर की घाटमपुर और अमरोहा की नौगावां सीट पर उप चुनाव होना है। बसपा ने घाटमपुर से पूर्व जिला अध्यक्ष कुलदीप शंखवार को उतारने का मन बना चुकी है। कुलदीप शंखवार तीन बार कानपुर देहात के जिला अध्यक्ष रहे हैं और बसपा सरकार में जोनल कोआर्डिनेटर भी थे। इसी तरह जोनपुर की मल्हनी सीट से उम्मीदवार का नाम तय किया जा चुका है, इसकी घोषणा भी जल्द किए जाने की संभाना है।
मायावती इन दिनों कर रही बैठक।
बसपा प्रमुख मायावती इन दिनों दिल्ली में बैठक कर रही हैं। मंडलवार सेक्टर प्रभारियों को लगातार दिल्ली बुलाया जा रहा है। अधिकतर मंडलों की बैठकें हो चुकी हैं। बसपा सुप्रीमों इन बैठकों में संगठन के पुनर्गठन और उसके विस्तार की चर्चा के साथ विधानसभा उप चुनाव की तैयारियों की समीक्षा कर रही हैं। बताया जा रहा है कि मायावती इसी बैठक में उप चुनाव के लिए उम्मीदवारों का नाम तय करते हुए सेक्टर प्रभारियों को इसकी घोषणा की जिम्मेदारियां दे रही हैं।             


गाजियाबादः साप्ताहिक बंदी का रोस्टर जारी

गाज़ियाबाद में बाज़ारों के लिए जारी हुआ साप्ताहिक बंदी का रोस्टर, जानिए किस दिन रहेंगे कौन से बाज़ार बंद।


अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। जिला प्रशासन ने जनपद में साप्ताहिक बंदी के लिए साप्ताहिक रोस्टर जारी किया गया है। इस रोस्टर के तहत गाज़ियाबाद में अलग-अलग कारोबार के लिए रविवार के अलावा मंगलवार व बुधवार को भी साप्ताहिक बंदी रहेगी। इसी प्रकार लोनी, मोदीनगर, मुरादनगर, फरीदनगर व पतला निवाड़ी आदि के लिए भी साप्ताहिक बंदी तय कर दी गई है। साप्ताहिक बंदी के अनुसार जिले भर में सैलून और ब्यूटी पार्लर की साप्ताहिक बंदी मंगलवार को तय की गई है। इसके बाद ज़िला प्रशासन अब इसे सख्ती से लागू कराने की तैयारी में जुट गया है। इसकी निगरानी के लिए टीमें बनाई जाएंगी और नियमों का उल्लंघन करने पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी।
आइए जानते हैं गाज़ियाबाद में किस दिन कौन से क्षेत्र के कौन से प्रतिष्ठान बंद रहेंगे।
रविवार किराना मंडी रामनगर, पालिका बाज़ार जीटी रोड, नवयुग मार्केट थोक विक्रेता, लोहा व्यापारी, फ़ोटो स्टेट। इसके अलावा, बिना बिजली वाली मैन्यूफैक्चर इंडस्ट्रीज
मंगलवार दुकान व वाणिज्य प्रतिष्ठान जहां बिजली या बिना बिजली से कार्य होने वाले, नवयुग मार्केट की अन्य दुकानें
मोहननगर में साप्ताहिक बंदी।
रविवार बाटा इंडिया लि. (डिपो), इन्डो बुल्गर फूड कम्पाउंड मेरठ रोड ग़ाज़ियाबाद स्थित समस्त वाणिज्यिक प्रतिष्ठान, मै. डाबर इंडिया लि. कारपोरेट कार्यालय कौशाम्बी।
बुधवार हिंडन पार की समस्त दुकान एवं वाणिज्यिक प्रतिष्ठान
मोदीनगर में साप्ताहिक बंदी।
मंगलवार सभी दुकान एवं वाणिज्य अधिष्ठान जहां बिना बिजली की सहायता से कार्य होता है। बिजली से चलने वाले प्रतिष्ठान बिजली विभाग के अनुसार।
शुक्रवार मै मोदी स्पिनिंग एवं वीविंग मिल्स के सामने स्थित दुकानों के साथ गोविंदपुरी व हरमुख पुरी की समस्त दुकान व वाणिज्य अधिष्ठान।  बिजली से चलने वाले प्रतिष्ठान बिजली विभाग के अनुसार।
मुरादनगर में साप्ताहिक बंदी
रविवार हैंडलूम व पावरलूम कारखाने।
मंगलवार बिजली से चलने वाले प्रतिष्ठान।
गुरुवार सभी दुकान व वाणिज्य अधिष्ठान।
लोनी में शुक्रवार की साप्ताहिक बंदी रहेगी। फरीदनगर और पतला निवाड़ी में सभी प्रतिष्ठान गुरुवार को बंद रहेंगे।               


गाजियाबाद न्यायालय 48 घंटे के लिए सील

जिला न्यायालय फिर हुआ 48 घंटों के लिए सील, एक कर्मचारी मिला कोरोना पॉज़िटिव।


अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। महामारी कोरोना का कहर गाजियाबाद में बहुत तेजी से बढ़ रहा है। गाजियाबाद का जिला एवं सत्र न्यायालय भी कोरोना के संक्रमण से अछूता नहीं है। जिसके बाद 48 घंटों के लिए न्यायालय को बंद किया गया।
चैंबरों को सेनेटाइज कराया जाएगा।
जनपद न्यायालय गाजियाबाद में कार्यरत एक कर्मचारी कोरोना पॉजिटिव पाया गया है। जिसको देखते हुए जिला न्यायालय परिसर में वैश्विक महामारी के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए शुक्रवार और शनिवार यानी 18 और 19 सिंतबर के लिए बंद कर दिया गया है। इस दौरान कोर्ट परिसर और अधिवक्ताओं के चैंबरों को सेनेटाइज कराया जाएगा। जिस कर्मचारी की कोरोना टेस्ट रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। उसके सम्पर्क में कौन-कौन था, इसकी जानकारी भी मुख्य चिकित्सा अधिकारी को दी गई है।                 


किसानों ने थाली-बर्तन बजाकर किया विरोध

मधुबन बापुधाम से प्रभावित किसानों के थाली-बर्तन बजा कर किया प्रदर्शन।


अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। बीते एक हफ्ते से गाज़ियाबाद में किसानों के कई विरोध प्रदर्शन देखने को मिले हैं। कृषि अध्यादेश हो या फिर दिल्ली मेरठ एक्सप्रेसवे को लेकर एक समान मुआवजे की मांग, कई दिनों से जिले में अलग-अलग क्षेत्रों के किसान अपनी अलग-अलग मांगो को सरकार और प्रशासन के समक्ष रखने का प्रयास तो कर रहे हैं, लेकिन आश्वासन के अलावा किसानों के हाथ कुछ और नहीं लग रहा है।
इसी कड़ी में आज (शुक्रवार को) मधुबन बापूधाम आवासीय योजना को लेकर गाजियाबाद विकास प्राधिकरण के विरोध में किसानों ने थाली बजाकर और अर्धनग्न होकर विरोध प्रदर्शन किया। प्रदर्शन के दौरान किसानों ने प्रदेश सरकार और विकास प्राधिकरण के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। प्रदर्शन में प्राधिकरण और वर्तमान सरकार के जनप्रतिनिधियों का किसानों ने विरोध किया।
‘किसान लड़ेंगे आर पार की लड़ाई।
किसान सुरदीप शर्मा ने कहा के वर्तमान में सरकार के अधिकारी और जनप्रतिनिधि पिछले दो वर्षों से हमारी वार्ता नहीं सुन रहे हैं। विकास प्राधिकरण के अधिकारी हमारी सुध नहीं ले रहे हैं। जो करार किसानों और प्राधिकरण के बीच में हुआ आज गाजियाबाद विकास प्राधिकरण उसको मानने के लिए तैयार नहीं है। किसान पिछले दो वर्षों से अधिकारियों और नेताओं के चक्कर लगा रहे हैं, मगर किसानों की कोई सुध नहीं ले रहा है। अब किसान आर पार की लड़ाई लड़ेंगे।
‘जिला मुख्यालय का करेंगे घेराव’
किसान नेता ने कहा आज विरोध प्रदर्शन में महिला और बच्चों ने भी साथ दिया। अब यह आंदोलन आगे बढ़ेगा और 28 तारीख को जिला मुख्यालय का घेराव करेंगे। जरूरत पड़ी तो, सभी किसान अनशन पर भी बैठेंगे। जब-तक किसानों की मांगो को नहीं मांगा जाता है, तब तक अन्नदाताओं का संघर्ष जारी रहेगा।                  


जन समस्याओं को लेकर नगर पंचायत में प्रदर्शन

अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। मोदीनगर निवाड़ी धोलड़ी मार्ग पर नगर पंचायत निवाड़ी में करीब 150 साल पुराना नहर के जर्जर पुल को लेकर भारतीय किसान यूनियन ने किया प्रदर्शन, इस जर्जर पुल पर आये दिन होती हैं दुर्घटनाएं,इस जर्जर पुल से करीब दो दर्जन से भी ज्यादा गांवों का आने जाने का रास्ता है यह मार्ग मोदीनगर से हरियाणा जाता है इस जर्जर पुल से निवाड़ी,पुठरी, सुहाना भनेड़ा,पतला,खिदोडा,महम्दपुर,कुसैडी,पैगा,नगलाआक्खु, नांगल,धोलडी आदि करीब दो दर्जन से भी ज्यादा गांवों का आने जाने का रास्ता है।इस पुल की दोनों साइडों की दीवार सड़क ऊंची होने से दीवार नीची पड़ गई है। जिससे कि दुर्घटना होते दीवार नीची होने के कारण नहर में गिरकर कितने आदमीयों की मौत हो चुकी है।इसको लेकर क्षेत्र वासियों में बड़ा रोष है।कितनी बार मा0उपजिलाधिकारी जी व मा0 जिलाधिकारी महोदय जी को भी क्षेत्त वासियों ने लिखित में सिकायत करने के बाद भी आज तक कोई सुनवाई नहीं हुई है। जल्द से जल्द इस जर्जर पुल को न ठीक कराया गया तो विभिन्न पार्टियों के नेता विभिन्न संगठनों के पदाधिकारी क्षेत्र के किसान मजदूर व व्यापारी भाकियू के बैनर तले मोदीनगर तहसील में दिया जायेगा धरना।प्रर्दशन करने में भारतीय किसान यूनियन के मेरठ मंडल उपाध्यक्ष सतेन्द्र त्यागी, डायरैक्टर विरेन्द्र त्यागी,सौर्य त्यागी पूर्व चेयरमैन कोपरेटिव सोसायटी, पूर्व सभासद अवनीश कुमार,मदन फौजी,मंगु केवट, अरविंद त्यागी, सुभाष चन्द्र, पप्पू फौजी अतुल त्यागी आदि लोग मौजूद रहे।                


हरियाणा में 24 घंटे में 2457 नए मरीज

हरियाणा में कोरोना संक्रमण के 2457 नए मामले, कुल मरीजों की संख्या 103773-देखिये स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी बुलेटिन।


राणा ओबरॉय


चंडीगढ़। स्वास्थ्य विभाग द्वारा 3 सितंबर 2020 जारी ताज़ा बुलेटिन के मुताबिक हरियाणा में कोरोना संक्रमण के 2457 नए मामले सामने आये, कुल मरीजों की संख्या 103773 पर पहुंची l आज ठीक होने वाले 2753 मरीजों को मिला कर कुल 81690 मरीज ठीक हो चुके हैं l आज कोरोना संक्रमित 24 मरीजों की मौत हो गई जिससे मरने वालों की संख्या 1069 हो गई जबकि 21014 मरीज अभी भी प्रदेश के विभिन्न अस्पतालों में ईलाज के लिए दाखिल हैं l                


काशी सर्जिकल सेंटर बना मौत का कारखाना

कल्याणपुर का काशी हॉस्पिटल एंड सर्जिकल सेंटर अस्पताल बना मौत का कारखाना।
 अमित राजपूत 
कानपुर । कानपुर के कल्यानपुर क्षेत्र में निजी अस्पतालो के डॉक्टरों पर लापरवाहियों के आरोप लग रहे है। आपको बता दे ताजा मामला कल्यानपुर थाना क्षेत्र में काशी हॉस्पिटल एंड सर्जिकल सेंटर का है। जहा परिजनों का आरोप है।
कि डॉक्टरों की लापरवाही से जच्चा और बच्चा की मौत हो गयी थी। इस पूरे मामले मे इलाज में पूरी तरह लापरवाही बरती गई। इसके साथ ही तीन दिनों में आईसीयू के नाम पर परिजनों से लाखों रुपये जमा करा लिए फिर भी लापरवाही बरतने से नाराज परिजनों ने हँगामा काटा मौके पर  पहुंची पुलिस ने मामले की लीपापोती में लग गयी। जबकि जिलाधिकारी महोदय ने  इस तरह बिना मानक के चल रहे हॉस्पिटलों पर कार्यवाही कर रहे है। फिर भी मातहत क्यों लापरवाही बरतने में लगे है।
जबकि हादसे के कुछ घंटे पहले ही डीएम के आदेश पर एक अस्पताल को सीएमओ ने सीज भी कराया है । मामला कानपुर देहात के अकबरपुर में रहने वाले मरीज का है।कल्यानपुर में बिना मानक के अस्पताल संचालक दबंगो के दम पर अस्पताल चला रहे है। काशी हॉस्पिटल में  हुई इस घटना को लेकर डीएम आलोक तिवारी ने कड़ी कार्रवाई की बात कही है।
उन्होंने कहा कि कोविड 19 के दौरान कुछ अराजक तत्व इस तरह की हरकतें कर रहे। जांच कराकर इस हॉस्पिटल पर भी कड़ी कार्रवाई की जायेगी अब देखना यह है। कि कार्यवाही होती है ।यह फिर जांच ही होती रहेगी।             


3 साल की मासूम बच्ची से रेप, गिरफ्तार

3 साल की मासूम बच्ची के साथ बलात्कार करने वाले आरोपी को पुलिस ने किया गिरफ्तार काफी दिनों से था फरार।


हरदोई। थाना सांडी क्षेत्र के ग्राम अमलोखा निवासी ईश्वर दयाल उर्फ ईशू पुत्र श्रीकृष्ण उर्फ केशन उम्र करीब 35 वर्ष के द्वारा दिनांक 28/07/ 2020 को समय करीब 7:30 बजे सायं एक 3 साल की मासूम बच्ची के साथ बलात्कार की जघन्य घटना को अंजाम दिया गया था ।उक्त घटना को हरदोई पुलिस द्वारा बेहद गंभीरता से लेते हुए बच्ची की जान की रक्षा हेतु घटनास्थल से महिला जिला चिकित्सालय हरदोई तक पूरे रूट को क्लियर करा कर बच्ची की जान बचाई थी। तथा अभियुक्त के खिलाफ मुकदमा अपराध संख्या 249 / 20 धारा 376 आईपीसी व 5 / 6 पाक्सो एक्ट पंजीकृत कर पुलिस मुठभेड़ में के दौरान अभियुक्त ईश्वर दयाल उपरोक्त को घटना की रात ही गिरफ्तार कर जेल भेजा गया था ।अभियुक्त ईश्वर दयाल उर्फ ईशू उपरोक्त के द्वारा कारित जघन्य घटना के कारण पूरे क्षेत्र में भय का माहौल बन गया था ।पुलिस अधीक्षक के निर्देशन तथा। अपर पुलिस अधीक्षक पूर्वी के कुशल नेतृत्व में आज उपरोक्त अपराधी ईश्वर दयाल के विरुद्ध एन.एस. ए. की कार्यवाही पूर्ण की गई ।एसप्रकार अपराधियों को महोदय का सीधा संदेश है। कि अपराधियों के विरुद्ध कड़ी से कड़ी कार्यवाही की जाएगी।                  


आप कार्यकर्ताओं पर बरसाई लाठी, भड़ास

प्रदर्शन कर रहे आप कार्यकर्ताओं पर लाठीचार्ज राष्ट्रीय बेरोजगारी दिवस के रूप में मना रहे थे। प्रधानमंत्री का जन्मदिन।


बृजेश केसरवानी


लखनऊ। आम आदमी पार्टी (आप) ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जन्मदिन को राष्ट्रीय बेरोजगारी दिवस के रूप में मनाया। सरकार के विरोध में परिवर्तन चौक पर प्रदर्शन कर रहे पार्टी की छात्र इकाई के कार्यकर्ताओं पर पुलिस लाठीचार्ज किया। इसके बाद उन्हें गिरफ्तार कर ईकोगार्डन भेज दिया गया।छात्र विंग के प्रदेश अध्यक्ष वंशराज दुबे के नेतृत्व में बृहस्पतिवार को कार्यकर्ता बेरोजगारी, निजीकरण सहित सरकार की नीतियों के विरोध में प्रदर्शन करने परिवर्तन चौक पहुंचे। कार्यकर्ताओं ने सरकार के खिलाफ नारेबाजी शुरू की तो उनकी पुलिस से झड़प हो गई। इसके बाद पुलिस ने भीड़ को तितर-बितर करने के लिए लाठियां बरसाईं।इस मौके पर बंशराज दुबे ने कहा कि सरकार युवाओं को दो करोड़ रोजगार देने का वादा कर सत्ता में आई थी। लेकिन अब वह वादा भूल गई। सरकार दिनोंदिन रोजगार छीनने में लगी हुई है। उन्होंने आरोप लगाया कि योगी सरकार नौकरियां छीनने के लिए 5 साल संविदा पर नौकरी का काला कानून ला रही है। जिन नौजवानों के बल पर सरकार सत्ता में आई थी।वही 2022 में जवाब देंगे। प्रदेश अध्यक्ष सभाजीत सिंह ने लाठीचार्ज की निंदा की है। प्रदर्शन में महिला शाखा की प्रदेश अध्यक्ष नीलम यादव, प्रदेश सचिव तुषार श्रीवास्तव, यूथ विंग के जिला अध्यक्ष ललित वाल्मीकि, हरिशंकर, छात्र शाखा के प्रदेश सचिव अनिल रावत व जिला अध्यक्ष ऋषियंत कटियार जिला उपाध्यक्ष अभय सिंह मौजूद रहें।                 


इंटरनेट कॉल कर रंगदारी मांगी, गिरफ्तार

ईटरनेट कॉल कर रंगदारी मांगी एक गिरफ्तार।


अरविंद सैनी


देवबंद (सहारनपुर)। इंटरनेट कॉल कर मेडिकल संचालक से तीन लाख रुपये की रंगदारी मांगने के मामले का सनसनीखेज खुलासा हुआ है। सहारनपुर पुलिस ने देवबंद से एक अभियुक्त को गिरफ्तार किया है। अभियुक्त ने अपने मोबाइल फोन पर एक एप डाउनलोड़ उससे कॉल कर रंगदारी मांगी थी। एक माह से पुलिस अभियुक्त की तलाश में थी।
देवबंद क्षेत्र के मकबरा रोड निवासी दीपक त्यागी के पास 27 जुलाई को एक फोन कॉल आई थी। कॉल करने वाले युवक ने खुद को सुशील बताते हुए तीन लाख रुपये की रंगदारी मांगी थी। साथ ही रुपये न देने पर जान से मारने की धमकी दी थी। जिसके बाद दीपक घबरा गया था ।और उसने पुलिस को इसकी सूचना दी। पुलिस ने तत्काल मुकदमा दर्ज कर मामले की छानबीन शुरू कर दी थी।
_इसी बीच दीपक को लगातार फोन कॉल आते रहे। लेकिन जिस नंबर से कॉल आ रही थी ।वह ट्रेस नहीं हो ।रहा था। जिसके बाद एसएसपी ने साइबर सेल सर्विलांस स्वाट टीम और देवबंद पुलिस की एक संयुक्त टीम इस मामले की छानबीन के लिए लगाई थी। पता चला की दीपक के मोबाइल पर एक एप के जरीए इंटरनेट कॉल से कॉल की जा रही है। इसके बाद टीम ने छानबीन शुरू कर दी। पुलिस टीम ने मोहल्ला अबुलहक निवासी अंजार को गिरफ्तार किया। पुलिस ने उसके पास से दो मोबाइल और एक कार बरामद की।सऊदी अरब से सीखा था इंटरनेट कॉल करनाअभियुक्त ने बताया कि वह कुछ दिन पहले सऊदी अरब में रहा था। जहां से वह अपने घर पर कॉल करने के लिए इंटरनेट कॉलिंग का प्रयोग करता था। वापस देवबंद आने के बाद उसने मोबाइल एप अपने नंबर पर इंस्टाल किया। जिसके लिए उसने सऊदी अरब की ही ।आईडी प्रयोग की थी। जिस कारण पुलिस को बार-बार सउदी अरब का ही एड्रेस मिल रहा था।एसपी देहात अशोक कुमार मीणा ने बताया कि 25 जुलाई को मेडिकल स्टोर संचालक से फोन पर तीन लाख रुपये की रंगदारी मांगी गई थी। इंटरनेट कॉल कर रंगदारी के लिए फोन किया गया था। जिसके बाद मुकदमा दर्ज कर एक संयुक्त टीम खुलासे के लिए लगाई गई थी। टीम ने एक अभियुक्त मो अंजार को गिरफ्तार कर लिया है।                


सेवा सप्ताह पर कार्य कर रहे हैं कार्यकर्ता

पीएम मोदी के जन्मदिन को सेवा सप्ताह के रूप में मना रहे हैं भाजपाई।


मिर्जापुर। आज दिनांक 18 सितंबर 2020 को मोदी जी के जन्म दिवस के अवसर पर सेवा सप्ताह के कार्यक्रम के उपलक्ष में सेक्टर पत्ती मंडल पहाड़ी के ग्राम महुआरी बूथ संख्या 344 व 345 पर सफाई किया गया। एवं प्लास्टिक मुक्ति का संकल्प लिया गया जिसमें कार्यक्रम के मुख्य। अतिथि विजय नारायण तिवारी भाजपा सेक्टर प्रभारी व कार्यक्रम संयोजक आदित्य बहादुर सिंह मंडल महामंत्री वरिष्ठ भाजपा नेता हम सबके अभिभावक पंडित ज्वाला प्रसाद शुक्ला एवं बूथ अध्यक्ष अनिल कुमार मिश्र व ब्रजेश उपाध्याय तथा बूथ प्रभारी संतोष तिवारी राधेश्याम उपाध्याय रामू जागीर रामकृपाल संजय तिवारी तथा आरएसएस के कार्यकर्ता नागेश्वर तिवारी आदि लोग सेवा कार्य किए।               


शोधकर्ताओं ने बताया गन्ने के रोग व लक्षण

डीपी मिश्रा
पलिया कलां (लखीमपुर)। गन्ने की फसल में लग रहे लाल सडऩ रोग व कीड़ों से बचाने के लिऐ गन्ना शोध संस्थान शाहजहांपुर से आये गन्ना वैज्ञानिकों ने क्षेत्र का भ्रमण कर फ सलों का निरीक्षण किया तथा किसानों को उससे बचाव के तरीके बताए। जानकारी के अनुसार शाहजहांपुर से आए वैज्ञानिको में पादप रोग विज्ञानी डा. एसपी सिंह एवं कीट विज्ञानी अरूण कुमार सिंह तथा चीनी मिल अधिकारियों ने बजाज हिन्दस्थान शुगर लिमिटेड के क्षेत्र में कृषकों के खेत पर पहुंचकर गन्ने की फ सल में लगे रोग एवं कीट की जांच करटे हुए वैज्ञानिकों ने कुछ कृषकों के खेतों पर ट्राइको कार्ड (बेधक नियंत्रण) का प्रत्यारोपण भी कराया। भ्रमण के दौरान कृषकों के प्रक्षेत्र पर गन्ना प्रजाति बवचा 05191 एवं को. 0238 के कुछ खेतो में छिटपुट लाल सडऩ रोग पाया गया। इसके नियंत्रण हेतु कृषकों को सुझाव दिया गया। वैज्ञानिकों ने बताया कि लाल सडऩ रोग से फसल को बचाने के लिए मृदा उपचार में ट्राइकोडरमा चार किग्रा. प्रति एकड़ 200 किग्रा. गोबर की सड़ी खाद के साथ मिलाकर 72 घंटे तक छाया में रखकर खेत की तैयारी के समय डाले। इसके अलावा बीज शोधन के लिए गन्ना बुवाई के समय थायोफि नेट मिथाइल द्वारा उपचारित करने से लाल सडऩ रोग से बचाव हो सकता है। वैज्ञानिकों ने कहा कि रोग से बचाव का बेहतर विकल्प फ सलचक्र अपनाना है। पलिया चीनी मिल क्षेत्र हेतु उन्नतशील गन्ना प्रजाति को. 0118, को. 09814, कोशा. 08272, कोशा. 13235 को जानकारों ने उपयुक्त बताया। गन्ना वैज्ञानिकों ने शरदकालीन गन्ना बुवाई में लाइन से लाइन की दूरी कम से कम चार फि ट एवं लाइनों के बीच में सह फ सल के रूप में पीली सरसो, आलू, मटर आदि को उगाने पर बल दिया। उन्होने बताया कि पलिया चीनी मिल क्षेत्र में शरदकालीन गन्ना बुवाई करना अधिक लाभप्रद हैै। गन्ना वैज्ञानिकों ने बताया कि इस वर्ष मिल क्षेत्र के खेतों में अधिक जलभराव से गन्ना फ सल पर काफी कुप्रभाव पड़ा है। भ्रमण के दौरान चीनी मिल के वरिष्ठ गन्ना प्रबंधक अशोक चौधरी एवं कुलदीप राठी, वरिष्ठ अधिकारी गन्ना असलम अली, यशवन्त सिंह, जितेन्द्र कुमार सिंह, एवं कृषक हरदीप सिंह, गुरमीत सिंह, राजेन्द्र सिंह, हरनेक सिंह, कुलदीप सिंह, सन्तोष सिंह, आदितमाम किसान उपस्थिति रहें।              


विभागों में खाली पड़े पदों का ब्यौरा मांगा

सरकारी विभागों में खाली पड़े पदों का योगी ने मांगा ब्यौरा।


संदीप मिश्रा


लखनऊ। बेरोजगारी को लेकर उठ रही आवाज का असर अब दिखाई देने लगा है। यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सरकारी विभागों में खाली पड़े पदों का ब्यौरा अफसरों से मांगा है। मुख्यमंत्री ने शुक्रवार को लोकभवन में अफसरों के साथ बैठक की और जल्द ही सभी भर्ती आयोगों की बैठक बुलाने का आदेश दिया।
उन्होंने निर्देश दिया कि अब तक हुईं तीन लाख भर्तियों की तरह ही। पारदर्शी तरीके से अगले तीन महीने में भर्ती प्रक्रिया शुरू करें और अगले छह महीने में नियुक्ति पत्र बांटें। मुख्यमंत्री ने कहा कि जिस प्रकार यूपी लोकसेवा आयोग और अन्य सरकारी भर्तियां हुई हैं। उसी पारदर्शी व निष्पक्ष तरीके से सभी भर्तियां की जाएं।
एक लाख 37 हजार पुलिस की भर्ती हो चुकी है। 50,000 शिक्षक की भर्ती हो चुकी है। और एक लाख से अधिक अन्य विभागों में भर्ती हो चुकी हैं। कोरोना कालखंड में सवा करोड़ लोगों को रोजगार दिया जा रहा है।
योगी ने आगे कहा कि हमारे युवा साथियों में प्रतिभा है। क्षमता है मेधा है। वर्तमान सरकार सभी को बिना भेदभाव के समान अवसर उपलब्ध करा रही है। सभी विभागों में रिक्त पदों पर चयन की प्रक्रिया शीघ्र प्रारंभ होगी। हमारा प्रयास है कि आगामी 6 माह में सभी विभागों में चयन प्रक्रिया को संपन्न करा लिया जाए।
ज्ञात हो। कि गुरुवार को युवाओं ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का जन्मदिन राष्ट्रीय बेरोजगार दिवस के रूप में मनाया। इस मौके पर उन्होंने सोशल मीडिया पर जमकर ट्वीट किए। वहीं विपक्ष ने सड़कों पर जोरदार प्रदर्शन किया। राष्ट्रीय बेरोजगार दिवस ट्विटर पर बृहस्पतिवार को टॉप ट्रेंड करता रहा।राजधानी लखनऊ में जगह-जगह प्रदर्शन हुए। कई जगह प्रदर्शनकारियों पर लाठियां चलीं और पुलिस से नोकझोंक भी हुई। मुख्यमंत्री आवास हजरतगंज, कैसरबाग, परिवर्तन चौक लखनऊ विश्वविद्यालय समेत विभिन्न कॉलेजों व अन्य स्थानों पर विरोध प्रदर्शन हुआ।                  


वेतन-भत्ते का विधेयक राज्यसभा में पारित

मत्रियों के वेतन भत्ते का संशोधन विधेयक राज्यसभा में पारित।


नई दिल्ली। राज्यसभा में शुक्रवार को मंत्रियों के वेतन और भत्ते से संबंधित संशोधन विधेयक 2020 को ध्वनि मत से पारित कर दिया गया। गृह राज्य मंत्री जी किशन रेड्डी ने सदन में इस विधेयक को पेश करते हुए कहा। कोरोना महामारी से निपटने में सरकार संसाधन जुटा रही है ।और अपने खर्चों में कटौती कर रही है। इसी कड़ी में मंत्रियों के वेतन और भत्तों में कमी लाई जा रही है।किशन रेड्डी ने कहा कि यह विधेयक अध्यादेश के स्थान पर लाया गया है। मंत्रियों के वेतन और भत्तों में वर्ष के लिए 30 प्रतिशत की कटौती एक वर्ष के लिये होगी।इससे पहले विधेयक पर सदन में संक्षिप्त चर्चा की गई और सभी सदस्यों ने एकमत से इसका समर्थन किया।                


खेती पंजाब की आत्मा, आत्मा पर हमला

खेती पंजाब की आत्मा रूह पर हमला बर्दाश्त नहींः सिद्धू


चंडीगढ़। लगभग एक साल की चुप्पी के बाद आखिरकार राजनीति में अपनी उपस्थिति दर्ज कराते हुए पंजाब के पूर्व मंत्री और कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू ने शुक्रवार को केंद्र सरकार पर कृषि विधेयकों को लेकर जमकर निशाना साधा। प्रदर्शनकारी किसानों के समर्थन में आते हुए।सिद्धू ने कहा।खेती पंजाब की आत्मा है ।और आत्मा पर हमला बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।
उन्होंने ट्वीट कर कहा।खेती पंजाब की आत्मा है। शरीर पर घाव ठीक हो सकते हैं। लेकिन आत्मा के घाव बर्दाश्त नहीं किए जाएंगे और माफ नहीं किया जाएगा।उन्होंने कहा कि किसान हर पंजाबी का गौरव और पहचान हैं।सिद्धू ने किसानों से सरकार के खिलाफ संघर्ष की तैयारी करने को कहा। जिसने उनके अधिकार छीन लिए।
अपने दार्शनिक अंदाज में प्रतिद्वंद्वियों पर कटाक्ष करते हुए।क्रिकेटर से राजनेता बने सिद्धू ने कहा।सरकारें तमाम उम्र यही भूल करती रहीं। धूल उनके चेहरे पर थी।और आईना साफ करती रहीं।दिलचस्प बात यह है ।कि अपनी ही कांग्रेस सरकार से नाराज चल रहे। सिद्धू ने आखिरी बार 25 सितंबर 2019 को ट्विटर का इस्तेमाल यह घोषणा करने के लिए किया था।कि उन्होंने अमरिंदर सिंह के नेतृत्व वाले मंत्रिमंडल से बतौर कैबिनेट मंत्री इस्तीफा देने के बाद अपने आधिकारिक बंगले को खाली कर दिया है।पंजाब से ताल्लुक रखने वाली हरसिमरत कौर बादल ने कृषि बाजारों को उदार बनाने के लिए लाए गए एक नए कानून के विरोध में गुरुवार को खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्री के पद से इस्तीफा दे दिया। उन्होंने ट्वीट कर कहा था।मैंने किसान विरोधी अध्यादेशों और विधेयकों के विरोध में केंद्रीय मंत्रिमंडल से इस्तीफा दे दिया है। किसानों के साथ उनकी बेटी और बहन के रूप में खड़े होने पर गर्व है।                


फेडरर ने विज्ञापन के लिए गाया क्लासिक

फेडरर ने विज्ञापन के लिए गाया बीटल्स क्लासिक।


नई दिल्ली। 21 बार के ग्रैंड स्लैम विजेता स्विस टेनिस स्टार रोजर फेडरर ने एक विज्ञापन के लिए एक बीटल्स क्लासिक गाना गाकर अपने फैन्स क आश्चर्यचकित कर दिया। फेडरर ने ज्यूरिक स्थित स्विस टेलीकॉम प्रोवाइडर सनराइज के लिए बीटल्स क्लासिक विद ए लिटिल हेल्प फ्रॉम माई फ्रेंड्स गाया।
यह पहला मौका नहीं है।जब स्विस स्टार ने कोई गाना रिकार्ड किया है। एटीपी टूर वेबसाइट के मुताबिक 39 साल के फेडरर ने 2017 में ग्रिगोर दिमित्रोव और टॉमी हास के साथ बीएनपी परिबास ओपन (इंडियन वेल्स) के दौरान बैकहैंड ब्वाएज का एक गाना गाया था।
इन तीनों ने 1982 शिकागो हिट ‘हार्ड टू से आई एम सॉरी’ गाया था। और इस दौरान हास के ससुर तथा विश्व के विख्यात प्रोड्यूसर तथा म्यूजिशियन डेविड फोस्टर प्यानो पर थे।
फेडरर घुटने की चोट के कारण 2020 में नहीं खेल रहे हैं। फेडरर ने कहा है। कि वह 2021 में वापसी करेंगे और इस तरह 2020 उनके करियर का दूसरा ऐसा साल होगा। जब वह एक भी खिताब नहीं जी सकेंगे।                  


ढांचा गिराने के आरोपियों को मिले माफी

अयोध्याउत्तर प्रदेश
विवादित ढांचा गिराने के आरोपियों को माफी मिले इकबाल।


संतलाल मौर्य


अयोध्या। अयोध्या में रामजन्मभूमि की जमीन के मालिकाना हक में बाबरी मस्जिद के पक्षकार रहे हाशिम अंसारी के बेटे इकबाल अंसारी ने सीबीआई के विशेष जज से विवादित ढांचा गिराने के आरोपियों के लिये माफी का आग्रह किया है। उन्होंने कहा। कि उच्चतम न्यायालय का फैसला रामजन्मभूमि के पक्ष में आने के बाद इस मुकदमे का कोई मतलब नहीं रह गया है।
इकबाल अंसारी ने कहा। कि जब मूल मुकदमे का फैसला आ गया तो ढांचा गिराने का मुकदमा भी खत्म किया। जाना चाहिये। हामिद अंसारी के निधन के बाद इकबाल अंसारी इस मुकदमें में मुस्लिम पक्षकार बने थे।
दूसरी ओर विध्वंस मामले के आरोपी और भारतीय जनता पार्टी के पूर्व सांसद रामविलास वेदांती ने कहा। कि 6 दिसम्बर 1992 को जो ढांचा गिराया गया वो मस्जिद नहीं थी। यह बात उच्चतम न्यायालय के आदेश आने के बाद स्पष्ट हो गई है। सीबीआई की विशेष अदालत इस मामले में 30 सितम्बर को फैसला सुनायेगी। अदालत ने सर्वश्री लालकृष्ण आडवाणी, कल्याण सिंह, मुरली मनोहर जोशी, उमा भारती समेत सभी आरोपियों को फैसले के समय में मौजूद रहने का आदेश दिया है।                   


चिकित्सा पद्धति का उचित प्रचार-प्रसार

भारतीय चिकित्सा पद्धति के प्रचार प्रसार के लिए सरकार प्रतिबद्ध हर्षवर्धन।


अश्वनी उपाध्याय


नई दिल्ली। राज्यसभा ने भारतीय चिकित्सा पद्धति के प्रचार प्रसार के आश्वासन के साथ होम्योपैथी केन्द्रीय परिषद (संशोधन) 2020 विधेयक और भारतीय चिकित्सा केन्द्रीय परिषद (संशोधन) विधेयक 2020 को आज ध्वनिमत से पारित कर दिया। केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री हर्षवर्धन ने इन दोनों विधेयकों पर एक साथ हुयी चर्चा का जबाव देते हुये कहा कि सरकार भारतीय चिकित्सा पद्धति के प्रचार प्रसार के लिए प्रतिबद्ध है।
डॉ. हर्षवर्धन ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी व्यक्तिगत स्तर पर इसको वैश्विक स्तर पर प्रचारित करने में लगे हुये हैं। और भारतीय चिकित्सा पद्धति को पूरी दुनिया में लोकप्रिय बनाने की कोशिश की जा रही है। उन्होंने कहा कि प्राकृतिक चिकित्सा पद्धति और योग को भी प्राथमिकता दी जा रही है। और इसके लिए अलग आयोग बनाने की तैयारी चल रही है। इस पर काम जारी है।डॉ. हर्षवर्धन ने कहा कि आयुष मंत्रालय को लेकर कई सवाल उठाये गये हैं। उन्होंने कहा कि आयुष मंत्रालय को जिस उद्देश्य से गठन किया गया था।वह अपने उद्देश्यों को पूरा करने में सफल रहा है। मंत्री ने कहा कि आयोग के संचालक मंडल में किसी तरह का आरक्षण का प्रावधान नहीं है। और इसमें किसी जाति या मजहब के नाम पर किसी को पद देने का प्रावधान नहीं है।केन्द्रीय मंत्री ने इससे पहले दोनों विधेयक पेश करते हुए कहा कि होमियोपैथी परिषद अपने दायित्वों को पूरा करने में विफल रहा और उस पर अनियमितताएं, पारदर्शिता का अभाव तथा भ्रष्टाचार के आरोप लगे थे। इसलिए परिषद के स्थान पर संचालक मंडल की स्थापना की गयी थी। इसके बाद सदन ने इन दोनों विधेयकों को ध्वनिमत से पारित कर दिया जो होम्योपैथी केन्द्रीय परिषद (संशोधन) अध्यादेश और भारतीय चिकित्सा केन्द्रीय परिषद (संशोधन) अध्यादेश का स्थान लेंगे।इसके पहले इलामारम करीम। के के रागेश, विनय विश्वम और केसी वेणुगोपाल ने पिछले दिनों जारी होमियोपैथी केंद्रीय परिषद (संशोधन) अध्यादेश तथा भारतीय चिकित्सा केंद्रीय परिषद (संशोधन) अध्यादेश को नामंजूर करने के लिए संकल्प पेश किया जिसे अस्वीकृत कर दिया गया।                 


आईपीएल शुरू होने से पहले सजा सट्टा बाजार

आईपीएल के शुरू होने से पहले सज चुका है सट्टा बाजार, यह टीम है सबकी फेवरेट।


रोशन कुमार प्रजापति


नई दिल्ली। आईपीएल का 13वां सीजन शनिवार से शुरू हो रहा है और इसी के साथ सट्टेबाजी का बाजार भी शुरू होने की पूरी संभावना है। शहर के आसपास मौजूद सट्टेबाजों की मानी जाए तो मौजूदा विजेता मुंबई इंडियंस सट्टेबाजों की पहली पसंद है और उस पर 4.90 रुपये का भाव है जबकि मुंबई के बाद सनराइजर्स हैदराबाद है जिस पर 5.60 रुपये का भाव है। यूएई में होने वाले आईपीएल के शुरू होने से कुछ दिन पहले ही गुरुग्राम पुलिस ने अपनी इंटेलिजेंट विंग, क्राइम ब्रांच यूनिट और सभी जिलों के स्टेशन हाउस ऑफिसर एसएचओ) को सट्टेबाजों पर नजर रखने के लिए कह दिया है,और अपराधियों के बारे में जानकारी इकट्ठा करने को कह दिया है।
वहीं दूसरी तरफ सट्टेबाजों ने पुलिस की नजर से दूर रहते हुए काम शुरू कर दिया है।
मुंबई इंडियंस की पिछले प्रदर्शन को देखते हुए उन्होंने रोहित शर्मा को अपना पसंदीदा खिलाड़ी चुना है।
नाम न छापने की शर्त पर एक सट्टेबाज ने बताया, “आईपीएल में मुंबई इंडियंस की मौजूदा कीमत 4.90 रुपये है। उनके बाद सनराइजर्स हैदराबाद हैं जिसकी कीमत 5.60 रुपये है। इसके बाद चेन्नई सुपर किंग्स पांच रुपये, रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर को 6.20 रुपये, दिल्ली कैपिटल्स 6.40 रुपये, कोलकाता नाइट राइडर्स 7.80 रुपये, किंग्स इलेवन पंजाब 9.50 रुपये और राजस्थान रॉयल्स 10 रुपये के हिसाब से है।   
उन्होंने कहा, “जिस टीम की कीमत सबसे कम होती है उसे काफी मजबूत माना जाता है। अगर कोई मुंबई इंडियंस पर 1000 रुपये लगाता है कि मुंबई जीतेगी और मुंबई जीत जाती है तो उसे 4,900 रुपये मिलेंगे। मैच रेट ऊपर-नीचे हो सकती हैं।
सट्टेबाज ने उनके लिए आईपीएल के महत्व को समझाते हुए कहा, “आईपीएल हमारे लिए और हमारे क्लाइंट के लिए बड़ा टूर्नामेंट है और इसका रद्द होना बड़ा झटका लगता है। कई लोग इन मैचों के लिए पैसा इकट्ठा करते हैं ताकि वो उधार चुका सकें और यह पैसा व्यवसाय में लगा सकें।
मेट्रोपोलिटन सिटी और छोटे शहर जैसे गुरुग्राम में सट्टेबाजी के बड़े गढ़ बन चुके हैं। आईपीएल में करोड़ों रुपये का सट्टा लगता है, लेकिन पुलिस इन लोगों पर लगाम लगाए रखने के लिए काफी सख्त है।
सूत्रों की मानें तो कई सट्टेबाजों जिनमें आगरा के श्याम वोहरा और उनके पिता वत्सल वोहरा का नाम शामिल है, ने गुरुग्राम में शरण ले ली है, क्योंकि दिल्ली और नोएडा में पुलिस की ज्यादा सख्ती है।
इंफॉर्मेशन ब्यूरो आईबी) के एक अधिकारी ने नाम न बताने की शर्त पर कहा, “सट्टेबाज श्याम वोहरा का नेटवर्क उत्तर प्रदेश और राजस्थान में है। यह बाप-बेटों का जोड़ा अपना सट्टेबाजी का कारोबार चलाने के लिए शहर में छुपा हुआ है। इसके अलावा कई राज्यों के सट्टेबाज शहर के बाहरी इलाकों में छुपे होंगे। आईपीएल मैचों में 40 हजार करोड़ का सट्टा लगाए जाने का अनुमान है।
इसी तरह के इनपुट के दम पर गुरुग्राम की पुलिस हाई अलर्ट है और इंटेलिजेंट यूनिट के पुलिस इन चार्ज को एरिया में निगरानी बढ़ाने को कहा है।
आधिकारिक डाटा के मुताबिक, “गैम्बलिंग एक्ट में कुल 148 मामले दर्ज हुए हैं और अभी तक इस साल में कुल 235 लोग गिरफ्तार किए जा चुके हैं। पिछले साल, 446 मामले पंजीकृत हुए थे और 700 लोग गैम्बलिंग एक्ट के तहत गिरफ्तार हुए थे।
गुरुग्राम पुलिस की डीसीपी हेडक्वाटर्स) ने कहा कि पुलिस इस समय कोविड-19 में व्यस्त है लेकिन उनकी यूनिट गैरकानूनी नेटवर्क पर नजर बनाए हुए हैं।
उन्होंने कहा, “हमने अपनी पुलिस को गैरकानूनी काम करने वाले सिंडीकेट पर नजर रखने को कह दिया है। हमारी टीम सभी तरह के साइबर ऑपरेशन पर नजर रखे हुए हैं। साथ ही लोगों को एक जगह पर इकट्टा न होने के संबंध में निर्देश भी दे दिए गए हैं।
क्राइम ब्रांच के एक अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर बताया पुलिस अपने सूत्रों के नेटवर्क से सट्टेबाजों की जानकारियां इकट्ठा करती हैं, क्योंकि सट्टेबाजों की हरकतों पर नजर बनाए रखना काफी मुश्किल होता है।
आईपीएल की शुरुआत 29 मार्च से होनी थी, लेकिन कोविड-19 के कारण इसे सितंबर में संयुक्त अरब अमीरात यूएई) में कराया जा रहा है। सूत्रों का कहना है कि सट्टेबाज बेसब्री से इंतजार कर रहे थे।


आरएसएस नेता से मांगी दो करोड़ की रंगदारी

अल्मोड़ा जेल में बंद कुख्यात बदमाश ने आरएसएस नेता से मांगी दो करोड़ की रंगदारी, नहीं देने पर हत्या की धमकी। जानिए पूरा मामला।


अल्मोड़ा। जेल में बंद कुख्यात बदमाश ने आरएसएस नेता एवं प्रॉपर्टी डीलर से दो करोड़ की रंगदारी वाट्सएप पर मांगी। डीलर ने पुलिस को उक्त नम्बर दे दिया। पुलिस ने उक्त नम्बर की जांच करते-करते तीन बदमाशों को दबोच लिया। तीनों बदमाश जेल में बंद कुख्यात के शूटर निकले हैं।
हरिद्वार के ज्वालापुर में एक प्रॉपर्टी डीलर मोनू त्यागी रहते हैं, मोनू राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की बड़े नेता भी है। सात सितंबर की रात उनके घर के पास बाइक सवार बदमाशों ने हवाई फायरिंग कर दी और फरार हो गए। मोनू ने इसकी सूचना पुलिस को दी। पुलिस जांच कर रही थी कि इसी बीच मोनू त्यागी के व्हाट्सएप पर अज्ञात नंबर से दो करोड़ रुपए की रंगदारी मांगने का मैसेज आया। मैसेज देख कर मोनू के होश उड़ गए। मैसेज में दो करोड़ में से पहले एक करोड़ रुपये देने को कहा था। साथ ही धमकी दी गई थी कि अगर इसका खुलासा किया तो जान से मार दिए जाओगे। लेकिन मोनू ने धमकी की परवाह किए बगैर उक्त मैसेज को पुलिस के लिए दिखाया। पुलिस ने वह नंबर सर्विलांस पर लगा दिया, नंबर की लोकेशन उधम सिंह नगर जिले के सितारगंज में मिली। पुलिस उसी नंबर पर जांच में जुट गई उसके बाद वह नंबर हरिद्वार में भी ट्रेस किया गया। गुरुवार को पुलिस ने ताना-बाना बुन तीनों बदमाशों को गिरफ्तार कर लिया।
ज्वालापुर कोतवाली प्रभारी प्रवीण सिंह कोश्यारी ने बताया कि बदमाशों ने कबूल किया है की उनके द्वारा मांगी गई रंगदारी अल्मोड़ा जेल में बंद कुख्यात बदमाश कलीम पुत्र सलीम निवासी मंगलौर जिला हरिद्वार के कहने पर मांगी है। यह तीनों कलीम के शूटर हैं। उन्होंने बताया कि जांच की जा रही है। जल्द और लोग भी शिकंजे में होंगे। पूछताछ के लिए कलीम को रिमांड पर लेने का प्रयास किया जाएगा।               


यूके को बस चलाने की अनुमति नहीं मिली

यूपी को उत्तराखंड सरकार ने रोडवेज बस चलाने की अनुमति नहीं दी, बताई ये वजह।


पंकज कपूर


लखनऊ/देहरादून। यूपी को उत्तराखंड में बस सेवाएं शुरू करने की अनुमति नहीं मिलेगी। कोरेाना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए यूपी के प्रस्ताव को मंजूरी न देने का निर्णय किया गया है। परिवहन सचिव शैलेश बगौली ने इसके संकेत दिए। उन्होंने कहा कि इस प्रस्ताव पर अभी निर्णय नहीं लिया जा रहा है। सू्त्रों के अनुसार उत्तराखंड को यूपी के बजाए दिल्ली में बस सेवाएं शुरू करने में ज्यादा फायदा है।
दूसरा, इस वक्त कोराना का संक्रमण तेजी से बढ़ रहा है। इसलिए भी सरकार इच्छुक नहीं है।
सूत्रों के अनुसार यूपी उत्तराखंड के विभिन्न क्षेत्रों में 100 बस सेवाएं शुरू करना चाहता है। इसके लिए कुछ समय पहले यूपी रेाडवेज ने राज्य सरकार को प्रस्ताव भेजा है। यूपी का कहना है कि इसी प्रकार उत्तराखंड भी अपनी बस सेवाएं यूपी के लिए शुरू कर सकता है। कुछ समय पहले सरकार ने राज्य रोडवेज के अधिकारियों से इस बाबत प्रस्ताव मांगा था। सूत्रों के अनुसार राज्य को यूपी के बजाए दिल्ली बस सेवाएं शुरू करने में ज्यादा फायदा है। इसलिए राज्य रोडवेज भी ज्यादा इच्छुक नहीं है। इस बीच राज्य में कोरेाना के संक्रमण में काफी तेजी आई है। सरकार का मानना है कि यदि ऐसे में बसे चलाने की अनुमति दे दी गई तो यात्रियों की जांच करना और नियंत्रण करना काफी मुश्किल हो जाएगी।                  


लखनऊ छात्र नेता की गोली मारकर हत्या

लखीमपुर खीरी: लखनऊ विवि के छात्र नेता की गोली मारकर हत्या, आरोपी गिरफ्तार।


लखीमपुर खीरी। उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में गुरुवार देर रात लखनऊ विश्वविद्यालय के छात्र नेता अमन बाजपेई की गोली मार कर हत्या कर दी गई। इस मामले में मुख्य आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है। लखीमपुर खीरी के पुलिस अधीक्षक के पीआरओ ने बताया कि मामला गोला कस्बे का है।
लक्ष्मीनगर मोहल्ला निवासी रामराखन बाजपेई अपने दो पुत्र विजय और अभय के साथ रहते हैं। जबकि रामराखन की दूसरी पत्नी से पुत्र कुलदीप बाजपेई कुछ दूरी पर अलग मकान में अपने परिवार के साथ रहता है। इन दिनों कोरोना के चलते विजय का बेटा लखनऊ विश्वविद्यालय में छात्र नेता अमन बाजपेई के लखनऊ स्थित घर आया हुआ था।
रात में खाना खाने के बाद घर से बाहर टहलने के लिए निकला था। लगभग सौ कदम की दूरी पर घर के बाहर सौतेले चाचा से पैतृक संपत्ति को लेकर कहा सुनी हो गयी थी। जिसके बाद अमन की गोली मार कर हत्या कर दी गयी। आनन फानन में परिजन अमन को अस्पताल लेकर भागे, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। आरोपी चाचा को गिरफ्तार कर लिया गया है।
सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव का पंचनामा भर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया और आरोपी को हिरासत में ले लिया है। मृतक के बाबा रामराखन बाजपेई गन्ना समिति में कई बार संचालक और केन ग्रोवर्स नेहरू डिग्री कॉलेज में प्रबंधक रह चुके हैं।
मृतक के पिता विजय बाजपेई केन ग्रोवर्स नेहरू डिग्री कॉलेज में छात्र संघ के अध्यक्ष रह चुके हैं। मृतक अमन बाजपेई अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद का पूर्व नगर सयोजक और लखनऊ विश्वविद्यालय में एलएलबी कर रहा था।                


शेयर बाजार में तेजी, 220 अंक ऊपर खुला

घरेलू शेयर बाजार की तेज शुरूआत, 220 अंक ऊपर खुला सेंसेक्स।


मुंबई। घरेलू शेयर बाजार की शुरूआत शुक्रवार को तेजी के साथ हुई। सेंसेक्स 220 अंकों की बढ़त के साथ 39,200 पर खुला। निफ्टी भी 68 अंकों की मजबूत बढ़त के साथ 11,584 पर खुला। एशिया के अन्य बाजारों से मिले सकारात्मक संकेतों से भारतीय शेयर बाजार में आरंभिक कारोबार के दौरान मजबूती बनी हुई थी।
सुबह 9.21 बजे सेंसेक्स पिछले सत्र से 157.08 अंकों यानी 0.40 फीसदी की तेजी के साथ 39,136.93 पर बना हुआ था जबकि निफ्टी 61.75 अंकों यानी 0.54 फीसदी की तेजी के साथ 11,577.85 पर कारोबार कर रहा था।
बंबई स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) के 30 शेयरों पर आधारित प्रमुख संवेदी सूचकांक सेंसेक्स पिछले सत्र के मुकाबले 220.57 अंकों की तेजी के साथ 39,200.42 पर खुलने के बाद 39,114.13 तक फिसला।
वहीं, नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) के 50 शेयरों पर आधारित प्रमुख संवेदी सूचकांक निफ्टी बीते सत्र से 68 अंकों की तेजी के साथ 11,584.10 पर खुलने के बाद 11,559.40 तक फिसला।                   


डीजल के दाम में लगातार दूसरी गिरावट

कच्चे तेल में तेजी के बावजूद पेट्रोल, डीजल के दाम में लगातार दूसरी बड़ी गिरावट।


नई दिल्ली। अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल में तेजी के बावजूद पेट्रोल और डीजल के दाम में शुक्रवार को लगातार दूसरे दिन बड़ी गिरावट दर्ज की गई। इन दो दिनों में देश की राजधानी दिल्ली में पेट्रोल 41 पैसे प्रति लीटर सस्ता हो गया है, जबकि डीजल के दाम में 54 पैसे प्रति लीटर की गिरावट आई है, जिससे उपभोक्ताओं को बड़ी राहत मिली है।
उधर, अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के दाम में लगातार पांचवें दिन तेजी का सिलसिला जारी है। बेंचमार्क कच्चा तेल ब्रेंट क्रूड का भाव इन पांच दिनों में करीब चार डॉलर प्रति बैरल बढ़ गया है।
तेल विपणन कंपनियों ने शुक्रवार को पेट्रोल के दाम में दिल्ली में 26 पैसे जबकि कोलकाता और मुंबई में 25 पैसे और चेन्नई में 23 पैसे प्रति लीटर की कटौती की। वहीं, डीजल के दाम में दिल्ली और कोलकाता में 35 पैसे जबकि मुंबई में 37 पैसे और चेन्नई में 33 पैसे प्रति लीटर की कटौती की गई है।
इंडियन ऑयल की वेबसाइट के अनुसार, दिल्ली, कोलकाता, मुंबई और चेन्नई में पेट्रोल का दाम घटकर क्रमश: 81.14 रुपये, 82.67 रुपये, 87.82 रुपये और 84.21 रुपये प्रति लीटर हो गया है। डीजल का भाव भी चारों महानगरों में घटकर क्रमश: 72.02 रुपये, 75.52 रुपये, 78.48 रुपये और 77.40 रुपये प्रति लीटर पर आ गया है।
अंतर्राष्ट्रीय वायदा बाजार इंटर कांटिनेंटल एक्सचेंज (आईसीई) पर ब्रेंट क्रूड के नवंबर डिलीवरी अनुबंध में शुक्रवार को पिछले सत्र के मुकाबले 0.28 फीसदी की तेजी के साथ 43.42 डॉलर प्रति बैरल पर कारोबार चल रहा था।
वहीं, न्यूयार्क मर्केंटाइल एक्सचेंज (नायमैक्स) पर वेस्ट टेक्सास इंटरमीडिएट (डब्ल्यूटीआई) के अक्टूबर डिलीवरी वायदा अनुबंध में पिछले सत्र के मुकाबले 0.22 फीसदी की तेजी के साथ 41.06 डॉलर प्रति बैरल पर कारोबार चल रहा था।               


फैशन डिज़ाइनर शरबरी की संदिग्ध मौत

कोलकाता: फैशन डिजाइनर शरबरी दत्ता अपने घर में मृत मिलीं।


कोलकाता। लोकप्रिय फैशन डिजाइनर शरबरी दत्ता गुरुवार और शुक्रवार के बीच की मध्यरात्रि को अपने दक्षिण कोलकाता के ब्रॉड स्ट्रीट आवास के बाथरूम में मृत पाई गईं। पुलिस सूत्रों के अनुसार, दत्ता शुक्रवार की रात करीब 12.15 बजे अपने बाथरूम के अंदर मृत मिली। स्थानीय पुलिस स्टेशन और कोलकाता पुलिस मुख्यालय लालबाजार की होमिसाइड ब्रांच के अधिकारी रात में घटनास्थल पर पहुंच कर जांच में जुट गए।
उनके परिवार के सदस्यों ने कहा कि दत्ता (63) को मंगलवार को रात के खाने के दौरान आखिरी बार देखा गया था। इसके बाद उनसे संपर्क नहीं हो पाया। प्राथमिक जांच से पता चला कि शौचालय में अचानक दिल का दौरा पड़ने से उनकी मृत्यु हुई होगी। लेकिन दत्ता के परिवार वालों ने कहा कि वह ठीक थीं और उन्हें ऐसी कोई पुरानी बीमारी नहीं थी।
कोलकाता पुलिस की होमिसाईड ब्रांच, फैशन डिजाइनर के आकस्मिक निधन के वास्तविक कारण का पता लगाने के लिए जांच करेगी। दत्ता के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है।
मशहूर बंगाली कवि अजीत दत्ता की बेटी, शरबरी दत्ता पिछले कुछ दशकों से विशेष रूप से पुरुषों के एथनिक परिधानों के क्षेत्र में पोशाक डिजाइनिंग उद्योग में एक लोकप्रिय नाम थीं। दत्ता ने ही रंगीन बंगाली धोती और डिजाइनर पंजाबी (कुर्ता) को मुख्यधारा के फैशन की दुनिया में कढ़ाई के कामों के साथ पेश किया था।                 


राष्ट्रपति ने बादल का इस्तीफा स्वीकार किया

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने हरसिमरत कौर बादल का इस्तीफा किया मंजूर केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर को मिली यह जिम्मेदारी।


अकांशु उपाध्याय


नई दिल्ली। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल का इस्तीफा मंजूर कर लिया है। तीन कृषि बिलों को लोकसभा में पारित कराए जाने से नाराज हरसिमरत ने गुरुवार को मंत्रिपद से इस्तीफा दे दिया था। प्रधानमंत्री की सिफारिश पर राष्ट्रपति ने हरसिमरत का इस्तीफा तुरंत मंजूर कर लिया।राष्ट्रपति ने कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर को खाद्य प्रसंस्करण मंत्रालय का अतिरिक्त प्रभार सौंपा है।
सत्तारूढ़ राजग में पड़ी फूट   
कृषि संबंधी तीन अध्यादेशों को कानूनी जामा पहनाने संबंधी विधेयकों पर सत्तारूढ़ राजग में फूट पड़ गई है। विधेयक से जुड़े प्रावधानों पर नाराजगी जताते हुए केंद्रीय खाद्य प्रसंस्करण मंत्री हरसिमरत कौर बादल ने बृहस्पतिवार को मोदी मंत्रिमंडल से इस्तीफा दे दिया था। इससे पहले लोकसभा में विधेयकों पर चर्चा के दौरान पार्टी अध्यक्ष सुखबीर सिंह बादल ने उनके इस्तीफे की घोषणा की थी। हालांकि उन्होंने कहा कि पार्टी एनडीए सरकार को समर्थन जारी रखेगी।विधेयकों के खिलाफ जारी विरोध सड़क के बाद संसद और सरकार तक पहुंच गया। हरसिमरत ने इस्तीफे की जानकारी देते हुए ट्वीट किया।मैंने किसान विरोधी अध्यादेशों और विधेयकों के खिलाफ कैबिनेट से इस्तीफा दे दिया। किसानों की बहन और बेटी बनकर उनके साथ खड़े रहने पर मुझे गर्व है। इससे पहले सुखबीर बादल ने कहा, इन विधेयकों का पंजाब-हरियाणा सहित उत्तर भारत के 20 लाख किसानों पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ेगा। ये कृषि क्षेत्र में पंजाब सरकार की 50 साल की मेहनत तबाह कर देंगे। इसके प्रावधान किसान विरोधी हैं। पार्टी कोटे की मंत्री हरसिमरत कौर ने इससे जुड़े अध्यादेशों का मंत्रिमंडल की बैठक में विरोध किया था। विरोध के बावजूद बिलों को लोकसभा में पेश किया गया। इसलिए वह मंत्रिमंडल से इस्तीफा देंगी। मंगलवार को भी बादल ने इन बिलों का लोकसभा में तीखा विरोध करते हुए वापस लेने की मांग की थी।भाजपा और एनडीए के सबसे पुराने सहयोगी अकाली दल से मोदी सरकार में केवल हरसिमरत ही शामिल थीं। पंजाब-हरियाणा के किसान कई दिनों से विधेयकों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं। सरकार ने सोमवार को ही। लोकसभा में आवश्यक वस्तु (संशोधन) विधेयक कृषक उपज व्यापार एवं वाणिज्य (संवर्धन व सरलीकरण) विधेयक तथा कृषक (सशक्तीकरण और संरक्षण) कीमत आश्वासन व कृषि सेवा पर करार विधेयक पेश किया था।                


राज्यसभा सांसद अशोक गस्ती का निधन

कोरोना से संक्रमित नवनिर्वाचित राज्यसभा सांसद का निधन पीएम मोदी ने जताया शोक।


नई दिल्ली। अस्पताल के निदेशक मनीष राय ने एक बयान में बताया कि गस्ती को कोविड-19 के कारण गंभीर निमोनिया हो गया था। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गस्ती के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए ट्वीट किया राज्यसभा सदस्य अशोक गस्ती समर्पित कार्यकर्ता थे, जिन्होंने कर्नाटक में पार्टी को मजबूत करने के लिए कड़ी मेहनत की। वह गरीबों और समाज के वंचित तबकों को सशक्त बनाने को लेकर जुनूनी थे। मैं उनके निधन से दु:खी हूं। मैं उनके परिवार एवं मित्रों के प्रति संवेदनाएं व्यक्त करता हूं। ओम शांति।राय ने बताया कि गस्ती गंभीर रूप से बीमार थे। उनके कई अंगों ने कार्य करना बंद कर दिया था। और वह जीवनरक्षक प्रणाली पर थे।तथा विशेषज्ञ चिकित्सकों का पैनल उनके स्वास्थ्य पर लगातार नजर रख रहा था। राय ने कहा।हम उनके निधन से शोकाकुल हैं और उनके परिवार एवं मित्रों के प्रति संवेदनाएं व्यक्त करते हैं।जमीनी स्तर के कार्यकर्ता एवं रायचूर के रहने वाले गस्ती को भाजपा के टिकट पर इस साल जून में निर्विरोध राज्यसभा सदस्य चुना गया था। सविता समाज से संबंधित गस्ती आरएसएस कार्यकर्ता और अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के सक्रिय सदस्य रहे थे।कोरोना वायरस से संक्रमित होने के बाद एक निजी अस्पताल में भर्ती नवनिर्वाचित राज्यसभा सदस्य अशोक गस्ती का बृहस्पतिवार रात निधन हो गया। वह 55 वर्ष के थे। गस्ती को दो सितंबर को ‘ओल्ड एयरपोर्ट रोड स्थित मणिपाल अस्पताल में भर्ती कराया गया था।        


गुमराह होने से बचें, नए अवसर मिलेंगे

कृषि से जुड़े बिल पास होने पर PM मोदी का ट्वीट कहा किसानों को नए अवसर मिलेंगे गुमराह करने में लगे कई लोग।


हरिओम उपाध्याय


नई दिल्ली। लोकसभा में गुरुवार को कृषि सुधार विधेयक पारित कर दिए गए। विधेयक पारित होने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक ट्वीट में इसे किसानों के लिए महत्वपूर्ण क्षण बताया।प्रधानमंत्री ने ट्वीट में लिखा।लोकसभा में ऐतिहासिक कृषि सुधार विधेयकों का पारित होना देश के किसानों और कृषि क्षेत्र के लिए एक महत्वपूर्ण क्षण है।ये विधेयक सही मायने में किसानों को बिचौलियों और तमाम अवरोधों से मुक्त करेंगे।
प्रधानमंत्री ने कहा।इस कृषि सुधार से किसानों को अपनी उपज बेचने केऐ लिए नए-नए अवसर मिलेंगे।जिससे उनका मुनाफा बढ़ेगा।इससे हमारे कृषि क्षेत्र को जहां आधुनिक टेक्नोलॉजी का लाभ मिलेगा वहीं अन्नदाता सशक्त होंगे।
ट्वीट में प्रधानमंत्री ने लिखा किसानों को भ्रमित करने में बहुत सारी शक्तियां लगी हुई हैं। मैं अपने किसान भाइयों और बहनों को आश्वस्त करता हूं। कि न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) और सरकारी खरीद की व्यवस्था बनी रहेगी। ये विधेयक वास्तव में किसानों को कई और विकल्प प्रदान कर उन्हें सही मायने में सशक्त करने वाले हैं।
बिचौलियों से किसानों को मुक्ति विधेयक पारित होने के बाद कई मंत्रियों और नेताओं की प्रतिक्रिया आई है। केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा। लोक सभा ने किसानों के हित में आज एक ऐतिहासिक विधेयक पास किया है। किसान अब अपनी फसल मंडी या मंडी के बाहर जहां भी अच्छा मूल्य मिले वहां बेच सकेंगे। किसान बिचौलियों के शोषण से मुक्त हो सकेंगे। किसानों हित के इस ऐतिहासिक क़ानून के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का आभार।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के निर्णायक नेतृत्व में आज आज़ादी के बाद कृषि क्षेत्र में हुए सबसे बड़े सुधारों में से एक को लोक सभा की मंजूरी मिल गई। भारत की कृषि का उद्योगों से बेहतर लिंक बनेगा।कृषि उत्पादों के लिए किसानों को सही मूल्य मिलेगा और उनका जीवन समृद्ध होगा।नरेंद्र सिंह तोमर ने क्या कहा।विधेयक के बारे में कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा।मौसम के जोखिम और बाजार के उतार-चढ़ाव से सुरक्षा के कारण इस अध्यादेश ने किसानों के लिए नई संभावनाओं और नई आशाओं के द्वार खोल दिए हैं। एवं किसानों की समृद्धि का मार्ग प्रशस्त किया है। गेहूं का न्यूनतम समर्थन मूल्य वर्ष 2014-15 के 1400 रुपये प्रति क्विंटल मुकाबले वर्ष 2020-21 में बढ़कर 1925 रुपये हो गया है।जो लगभग 37.5% की वृद्धि को दर्शाता है।नरेंद्र सिंर तोमर ने कहा। योजना के एक वर्ष के भीतर ही 10 करोड़ से अधिक किसान परिवार लाभान्वित हुए हैं। इसके अंतर्गत अब तक DBT के माध्यम से 93,000 करोड़ रुपये की राशि किसानों के खतों में हस्तांतरित की गई है।इसी प्रकार की प्रतिक्रिया केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की ओर से आई। उन्होंने कहा। लोकसभा ने दो बिल पास कर दिए। कृषि क्षेत्र में सुधार का यह बड़ा कदम है।किसान अब अपनी उपज कहीं भी और किसी को भी बेच सकते हैं। एपीएमसी बनी रहेगी और न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) भी जारी रहेगा।सीएम योगी की प्रतिक्रिया
कृषि विधेयक पर यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा।कृषि उपज व्यापार और वाणिज्य (संवर्धन और सरलीकरण) विधेयक 2020 कृषि उपज के कुशल, पारदर्शी और बाधारहित अंतर-राज्य और राज्‍य के भीतर व्यापार और वाणिज्य को बढ़ावा देगा। इससे किसानों और व्यापारियों को बिक्री और खरीद के लिए पसंद की स्वतंत्रता प्राप्त होगी। कृषि उपज व्यापार और वाणिज्य (संवर्धन और सरलीकरण) विधेयक 2020 का लोकसभा में पास होना। एक नए युग का आरंभ है। यह विधेयक किसान बहनों-भाइयों के हितों का संरक्षण सुनिश्चित करेगा।इस लोक कल्याणकारी प्रयास के लिए प्रधानमंत्री जी का आभार।                   


भारत में लॉकडाउन सफल या असफल रहा

भारत में लॉकडाउन सफल या असफल।कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी की रिसर्च में सामने आई बड़ी बाते
हरिओम उपाध्याय


नई दिल्ली। कोरोना वायरस का संकट देश में फैलता जा रहा है। भारत दुनिया का ऐसा देश है। जहां कोरोना से होने वाली मौतों का औसत काफी कम है। इस बीच कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी के द्वारा एक रिसर्च की गई है। जिसमें दावा किया गया है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के द्वारा लगातार किए गए संवाद और जनता से की गई अपीलों के कारण ही लॉकडाउन सफल हो पाया. इसी का फायदा भारत में कोरोना वायरस के कहर को कम रखने में हुआ।
कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी की ओर से की गई इस रिसर्च को PLOS ONE ने 11 सितंबर को पब्लिश किया है। जिसे बाद में भारत सरकार ने भी देखा है। रिपोर्ट के मुताबिक भारत में प्रधानमंत्री कार्यालय कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई में सबसे आगे रहा। लगातार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा किए गए संवाद की वजह से लोगों ने कोरोना वायरस को गंभीरता से लिया और तैयारी हो पाई।
रिसर्च में कहा गया है। कि पीएम मोदी के द्वारा की गई अपील के कारण ही 130 करोड़ लोग सख्त लॉकडाउन का पालन कर पाए और सोशल डिस्टेंसिंग को समझ पाए।इसके अलावा पीएमओ के द्वारा बनाया गया PM Cares फंड भी उनकी अपील के बाद लोगों की मदद से भर गया।
इस दौरान लोगों को जागरुक रखने के लिए सोशल मीडिया और टीवी मीडिया का बड़ा सहारा लिया गया। कोरोना संकट के बीच उभरे आर्थिक संकट को देखते हुए प्रधानमंत्री ने लोगों से बात की।हर तबके के कारोबारियों से चर्चा की गई।इतना ही नहीं पीएम ने सभी से अपने कर्मचारी की सैलरी ना काटने को कहा। जिसका बड़ा असर हुआ।
PLOS ONE ने अपनी रिपोर्ट में कहा है।कि मार्च की शुरुआत में ही भारत ने कड़े नियम लागू करने शुरू कर दिए थे। दूसरी ओर टेस्टिंग को बढ़ाया जा रहा था। जब लॉकडाउन आया, तब भारत में PPE किट सैनिटाइजर और मास्क जैसी चीज़ें बनाई जाने लगी थीं।आपको बता दें कि इससे पहले भी दुनिया की कई एजेंसी और अखबारों ने माना है कि भारत में सबसे सख्त लॉकडाउन था।जिसका पालन लोगों ने किया।भारत सरकार ने भी दावा किया है कि लॉकडाउन के कारण भारत में करीब 25 लाख कोरोना केस कम हैं।              


पूरी दुनिया में घंटों ठप रहे फेसबुक-इंस्टाग्राम

पूरी दुनिया में घंटों ठप रहे फेसबुक और इंस्टाग्राम यूजर्स में अफरातफरी।


अकांशु उपाध्याय


नई दिल्ली। दुनिया की मशहूर सोशल नेटवर्किंग साइट्स फेसबुक और इंस्टाग्राम देर रात काफी देर तक ठप रहे। जिसके चलते लोगों को काफी देर तक इश सोशल मीडिया साइट्स पर लॉग इन करने में परेशानी हुई।
दरअसल भारत समेत दुनिया के तमाम यूजर्स को एंड्रॉयड और आईओएस पर इंस्टाग्राम और फेसबुक दोनों साइट्स में काफी परेशानी का सामना करना पड़ा। लोग इन सोशल साइट्स को ना तो रिफ्रेश कर पा रहे थे।और ना ही मैसेज भेज पा रहे थे। और ना ही कुछ शेयर कर पा रहे थे। यह टेक्निकल फाल्ट रात लगभग 11 बजे हुई। कई यूजर्स ने ट्विटर पर सोशल साइटों की दिक्कतों के बारे में लिखा। साथ ही हैशटैग  करते हुए ।फेसबुक और इंस्टाग्राम के ठप हो जाने से अपनी समस्याओं के बारे में बताना शुरू किया।
इस फाल्ट के चलते दुनियाभर के यूजर्स घंटों फेसबुक और इंस्टाग्राम को यूज नहीं कर पाए। खैर।काफी देर बाद ये दोनों सोशल मीडिया साइट्स स्मूथली फंक्शन करने में सफल रही। यूजर्स ने लिखा कि उन्हें फेसबुक पर फोटो अपलोड करने में देरी हो रही है। और उनके फेसबुक लाइव में एरर आ रहा है। कुछ इंस्टाग्राम के यूजर्स ने लिखा कि न्यूज फीड को रिफ्रेश करने में बहुत देर तक कुछ नहीं आ रहा है।                 


96,424 नए मामले, आंकड़ा 52 लाख पार

भारत में कोरोना का कहर जारी 24 घंटों में 96,424 नए मामले 1174 मौते।संक्रमितों का आंकड़ा 52 लाख पार।


अकांशु उपाध्याय


नई दिल्ली। देश में कोरोना संक्रमण का आंकड़ा 52 लाख के पार पहुंच गया है।पिछले 24 घंटों में 96,424 नए कोरोना मामले दर्ज किए गए हैं। इससे पहले 16 सितंबर को रिकॉर्ड 97,894 संक्रमण के मामले आए थे। वहीं 24 घंटे में 1174 लोगों की जान भी चली गई है। ये लगातार 16वां दिन है ।जब देश में एक हजार से ज्यादा लोगों की मौत हुई है।अच्छी खबर ये है कि 24 घंटे में रिकॉर्ड 87,472 मरीज ठीक भी हुए हैं।
स्वास्थ्य मंत्रालय के ताजा आंकड़ों के अनुसार, देश में अब कुल कोरोना संक्रमितों की संख्या 52 लाख 14 हजार हो गई है।इनमें से 84,372 लोगों की मौत हो चुकी है।एक्टिव केस की संख्या 10 लाख 17 हजार हो गई और 41 लाख 12 हजार लोग ठीक हो चुके हैं।संक्रमण के सक्रिय मामलों की संख्या की तुलना में स्वस्थ हुए लोगों की संख्या करीब चार गुना अधिक है।
6 करोड़ 15 लाख से ज्यादा सैंपल टेस्ट।ICMR के मुताबिक, 16 सितंबर तक कोरोना वायरस के कुल 6 करोड़ 15 लाख सैंपल टेस्ट किए जा चुके हैं। जिनमें से 10 लाख सैंपल की टेस्टिंग कल की गई. पॉजिटिविटी रेट 7 प्रतिशत से कम है। कोरोना वायरस के 54% मामले 18 साल से 44 साल की उम्र के लोगों को हैं लेकिन कोरोना वायरस से होने वाली 51% मौतें 60 साल और उससे अधिक उम्र के लोगों में हुईं हैं।मृत्यु दर में गिरावट
राहत की बात है। कि मृत्यु दर और एक्टिव केस रेट में लगातार गिरावट दर्ज की जा रही है। मृत्यु दर गिरकर 1.62% हो गई। इसके अलावा एक्टिव केस जिनका इलाज चल है।उनकी दर भी घटकर 20% हो गई है।इसके साथ ही रिकवरी रेट यानी ठीक होने की दर 79% हो गई है. भारत में रिकवरी रेट लगातार बढ़ रहा है।
देश में सबसे ज्यादा एक्टिव केस महाराष्ट्र में हैं।महाराष्ट्र में दो लाख से ज्यादा संक्रमितों का अस्पतालों में इलाज चल रहा है।इसके बाद दूसरे नंबर पर तमिलनाडु, तीसरे नंबर पर दिल्ली, चौथे नंबर पर गुजरात और पांचवे नंबर पर पश्चिम बंगाल है। इन पांच राज्यों में सबसे ज्यादा एक्टिव केस हैं। एक्टिव केस मामले में दुनिया में भारत का दूसरा स्थान है।कोरोना संक्रमितों की संख्या के हिसाब से भारत दुनिया का दूसरा सबसे प्रभावित देश है। मौत के मामले में अमेरिका और ब्राजील के बाद भारत का नंबर है।                


दो लड़कियों के शव पेड़ पर लटकते मिलें

रायपुर/कोंड़ागांव। दो नाबालिग बालिकाओं का शव पेड़ में फांसी के फंदे पर लटकते हुए मिली है। मामला जिले के फरसगांव थाना क्षेत्रान्तर्गत ग्राम छिंदली मुंडापारा का है। दो नाबालिग बालिकाओं का शव संदिग्ध परिस्थितियों में घर से दूर खेत के एक पेड़ में फांसी के फंदे पर झूलते हुए मिली है। सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंच गई है। पुलिस ने शव को बरामद कर पोस्टमार्टम लिए भेज दिया है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट तथा पुलिस जांच के बाद ही मौत के कारण का खुलासा हो पायेगा।                


आग लगे ट्रैक्टर को सड़क पर दौड़ाता रहा

रायगढ़ की सड़को पर दिखा हॉलीवुड फिल्म घोस्ट राइडर का नजारा । आग लगे ट्रैक्टर को बेखौफ सड़कों पर दौड़ आता रहा ड्राइवर। 


अभिनव शर्मा
रायगढ़। आज सुबह 11:00 बजे के करीब सड़क पर वह नजारा दिखा। जिसने हॉलीवुड की चर्चित फिल्म घोस्ट राइडर की याद दिला दी। आपको बता दें कि घोस्ट राइडर हॉलीवुड की चर्चित फिल्म है। जिस पर हीरो सड़कों पर अपनी बाइक के साथ निकलता है। जिस पर आग लगी रहती है। यहां भी ऐसा ही कुछ देखने को मिला जिसमें नगर निगम के ट्रैक्टर जो कचरा उठाती है। उसकी ट्रॉली में आग लगा हुआ था। आग की लपटें उठ रही थी ।और ट्रैक्टर चालक बेखौफ सड़कों पर दौड़ा रहा था। लोगों द्वारा टोकने पर भी ट्रैक्टर चालक नहीं रुका और रफ्तार तेज कर आगे की ओर निकल गया। इसी बीच लोगों ने पूरा मामला कैमरे में कैद कर लिया। मामला शहर के इंदिरा नगर क्षेत्र के का है।                 


दवाई बता कर परिवार को जहर खिलाया

कोरोना का दवाई बताकर अपने बच्चों को पिलाया जहर पड़ोसियों की मदद से पहुंचाया अस्पताल।


श्याम अग्रवाल


खरोरा। ग्राम पंचायत केसला में एक शराबी युवक ने अपनी पत्नी और तीन बच्चों के साथ जहर सेवन कर लिया। लोगों को जानकारी होने के बाद तत्काल घायलों को अस्पताल में भर्ती कराया गया। जहां उनका इलाज जारी है।


मिली जानकारी के मुताबिक ग्राम पंचायत केसला निवासी प्रेम नारायण देवांगन आदतन शराबी है। उसने शराब की पूर्ति के लिए बहुत लोगों से कर्ज लिया था। कर्ज चुकाने उसने घर की जमीन बेच दिया था।आर्थिक रूप से टूट जाने के बाद घर में कुछ भी नहीं बचा था। अवसाद के चलते उसने कीटनाशक का सेवन कर परिवार समेत आत्महत्या करने का प्रयास किया। उसकी एक नाबालिग बच्ची ने बताया कि पिता ने करोना की दवाई है। कहकर हमें गिलास में डालकर पिलाया।सुबह 9 बजे पड़ोसी सरस्वती देवांगन ने दरवाजा खटखटाया लेकिन दरवाजा कोई नहीं खोला।कुछ अनहोनी की आशंका होने पर उसने इसकी जानकारी आस पड़ोस के लोगों को दिया।और उनकी मदद से दरवाजा खुलवाया।
घर के अंदर का नजारा भयानक था। प्रेम नारायण और उनकी पत्नी बेहोशी की हालात में पड़ी थी।इसके बाद तत्काल प्रेम नारायण व पत्नी कामिनी देवांगन (30) निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया। वहीं बच्चे प्रिया (11), गायत्री (9), तुलेशवर (7) को केसीएच हॉस्पिटल खरोरा में भर्ती किया गया ।डॉक्टर एसपी साहू ने बताया कि सभी गहन चिकित्सा उपचार के लिए भर्ती किया गया।              


तुमको देखा तो यह ख्याल आयाः जन्मदिन

तुमको देखा तो ये ख्याल आया।


ध्रुव गुप्त।
मुंबई। आधुनिक भारतीय सिनेमा की महानतम अभिनेत्रियों में एक शबाना आज़मी ने अपने चार दशक लंबे फिल्म कैरियर में सिनेमा में संवेदनशील और यथार्थवादी अभिनय के जो आयाम जोड़े उसकी मिसाल भारतीय तो क्या, विश्व सिनेमा में भी कम ही मिलती है। उन्होंने बताया कि बिना शारीरिक हावभाव के आंखों और चेहरे से भी अभिनय किया जा सकता है। 
महान शायर कैफ़ी आज़मी और रंगमंच अभिनेत्री शौकत आज़मी की इस बेटी को फिल्म एंड टेलीविज़न इंस्टिट्यूट से ग्रेजुएशन के बाद जो पहली फिल्म मिली थी ख्वाजा अहमद अब्बास की 'फ़ासला', लेकिन उनकी जो पहली फिल्म परदे पर आई, वह थी श्याम बेनेगल की 'अंकुर'। इस फिल्म की सफलता और ख्याति ने उन्हें उस दौर की एक दूसरी महान अभिनेत्री स्मिता पाटिल के साथ तत्कालीन समांतर और कला सिनेमा का अनिवार्य हिस्सा बना दिया। 
सौ से ज्यादा हिंदी और अंग्रेजी फिल्मों में अभिनय कर चुकी शबाना देश की पहली अभिनेत्री हैं जिन्हें अपनी फिल्मों - अंकुर, अर्थ, खंडहर, पार और गॉडमदर में अभिनय के लिए पांच राष्ट्रीय पुरस्कार और अपनी फिल्मों - अंकुर, थोड़ी सी बेवफाई, मासूम, अवतार, मंडी, स्पर्श, मकड़ी और तहज़ीब के लिए आठ फिल्मफेयर पुरस्कार मिले। 
फिल्मों के अलावा वे अपने सामाजिक सरोकारों और जन मुद्दों पर संघर्ष के लिए भी जानी जाती हैं। बाल कल्याण से जुड़े मसलों, एड्स के प्रति जागरूकता और सांप्रदायिकता के खिलाफ लड़ाई में उनकी सक्रिय भागीदारी ने दिखाया कि एक कलाकार की संवेदनशीलता पर्दे पर ही नहीं, वास्तविक जीवन में भी व्यक्त होती है।
जन्मदिन पर शबाना जी के लंबे, सृजनशील जीवन के लिए ढेर सारी शुभकामनाएं।                  


जल, जंगल और जमीन के हक का संघर्ष

बिहार में जल, जंगल और ज़मीन के हक़ों के लिए संघर्ष कर रहे आदिवासियों चलवाई गईं गोलियां।


आवेश तिवारी 
पटना। बिहार के इस चुनावी माहौल में जिला कैमूर के अधौरा प्रखंड़ में अपने जल, जंगल और ज़मीन के हक़ों के लिए संघर्ष कर रहे आदिवासीयों पर बीजेपी जद यू  की गठबंधन सरकार की पुलिस द्वारा बर्बर गोलियां बरसाई गई हैं।
11 सितंबर 2020 को पुलिस और वन विभाग ने निहत्थे आदिवासियों पर गोली चलाई  जिसमें 3 लोग घायल हो गए और कई को चोटें आयी। इतना ही नही  दर्जनों आदिवासीयों को फर्जी मुकदमें में जेल भेज दिया गया।
आदिवासी समुदाय व वनों में रहने वाले वनाश्रित समुदाय अपने बुनियादी अधिकारों वनाधिकार कानून को लागू करने को लेकर दो दिवसीय पूर्व आयोजित कार्यक्रम के अनुसार धरने पर बैठे थे, जो कि 10 और 11 सितंबर को था। 
हजारो की संख्या में बैठे आदिवासियों से जब कोई भी अधिकारी बात करने नही आया तो क्षुब्ध हो कर आदिवासीयों ने पहले दिन शाम को वन विभाग के दफ्तर को घेर कर उसकी सांकेतिक ताला बंदी कर दी थी।                


किसान संगठनों का सरकार पर आरोप

देश के किसान मोदी सरकार के तीन नये विधेयकों का विरोध क्यों कर रहे हैं।


वो दिन दूर नही जब भारत के हिंदू यजीदी बनकर अपनी ही जन्मभूमि पर रहम की भीख मांगते नजर आयेगें।
यूपी में क़ानून का नहीं, अपराधियों से रिश्तों का 'राजधर्म' चलता है।
 जब तुम कहते हो कि भारत पर तुम्हारा बराबर का हक़ है।
कृष्णकांत।
मैंने ये जानना चाहा कि देश के किसान मोदी सरकार के तीन नये विधेयकों का विरोध क्यों कर रहे हैं।किसान संगठनों के विरोध के कारण जायज हैं।
किसान संगठनों का आरोप है।
नए कानून से कृषि क्षेत्र भी पूंजीपतियों और कॉरपोरेट घरानों के हाथों में चला जाएगा और इसका सीधा नुकसान किसानों को होगा।
इन तीनों विधेयक किसानों को बंधुआ मजदूरी में धकेल देंगे।
ये विधेयक मंडी सिस्टम खत्म करने वाले, न्यूनतम समर्थन मूल्य खत्म करने वाले और कॉरपोरेट ठेका खेती को बढ़ावा देने वाले हैं, जिससे किसानों को भारी नुकसान होगा।
बाजार समितियां किसी इलाक़े तक सीमित नहीं रहेंगी।दूसरी जगहों के लोग आकर मंडी में अपना माल डाल देंगे और स्थानीय किसान को उनकी निर्धारित रकम नहीं मिल पाएगी।नये विधेयक से मं​डी समितियों का निजीकरण होगा।
नया विधेयक ठेके पर खेती की बात कहता है।जो कंपनी या व्यक्ति ठेके पर कृषि उत्पाद लेगा, उसे प्राकृतिक आपदा या कृषि में हुआ नुक़सान से कोई लेना देना नहीं होगा।इसका नुकसान सिर्फ किसान उठाएगा।
अब तक किसानों पर खाद्य सामग्री जमा करके रखने पर कोई पाबंदी नहीं थी।ये पाबंदी सिर्फ़ व्यावसायिक कंपनियों पर ही थी।अब संशोधन के बाद जमाख़ोरी रोकने की कोई व्यवस्था नहीं रह जाएगी, जिससे बड़े पूंजीपतियों को तो फ़ायदा होगा, लेकिन किसानों को इसका नुक़सान झेलना पड़ेगा।
किसानों का मानना है कि ये विधेयक "जमाख़ोरी और कालाबाज़ारी की आजादी" का विधेयक है।विधेयक में यह स्पष्ट नहीं है कि किसानों की उपज की खरीद कैसे सुनिश्चित होगी, किसानों की कर्जमाफी का क्या होगा।                  


छात्र सभा सपा की पुलिस से हुई झड़प

 समाजवादी छात्र सभा ने मनाया बेरोजगार दिवस पर पुलिस से हुई झड़प।


अतीश द्विवेदी


लखीमपुर खीरी। समाजवादी छात्र सभा ने प्रधानमंत्री मोदी के जन्मदिन को बेरोजगार दिवस के रूप में मनाया। लोहिया भवन से कलेक्ट्रेट तक जाने के लिए कार्यक्रम तय था। पुलिस  ने लोहिया भवन पहुंचने से पहले ही कचहरी के गेट नम्बर दो पर कार्यकर्ताओं की गाड़ियां पुलिस की गाड़ी लगाकर रोक ली गई। छात्रसभा के कार्यकर्ता नारेबाजी करते हुए व थाली पीटते हुए पैदल ही आगे बढ़ने लगे। पुलिस ने लोहिया भवन के सामने छात्रसभा के कार्यकर्ताओं को आगे बढ़ने से रोक लिया ।
छात्र सभा के कार्यकर्ता नारे बाजी करते हुए वही लोहिया भवन के सामने सड़क पर लेट गए।  निवर्तमान छात्रसभा जिलाध्यक्ष आकाश लाला ने बताया कि हम तमाम साथी ज्ञापन के माध्यम से मोदी-योगी की जनविरोधी नीतियों के चलते डूबती अर्थव्यवस्था घटते रोजगार, बेहाल तंगहाल आत्महत्या को मजबूर नौजवान की पीड़ा, प्रदेश देश सरकारी विभागों में खाली पड़े रिक्त पदों को भरने, योगी सरकार द्वारा सरकारी नौकरियों में पांच साल के संविदा के कानून को वापस लेने, औऱ लॉकडाउन के चलते बेरोजगार हुए लोगों को 15 हजार मासिक गुजारा भत्ता देने की मांग की है।
निवर्तमान जिला महासचिव प्रवीन यादव ने बताया कि पूंजी परस्त, कारपोरेट परस्त सरकार सार्वजनिक उपक्रमों को निजी हाथों में सौप कर देश को अंदर से खोखला करने पर उतारू है, जिसे समाजवादी कार्यकर्ता और देश का युवा किसी कीमत पर बर्दास्त नहीं करेगा।कार्यकर्ताओं ने तीखी नोक झोंक के बाद वहीं पर आए सदर एस डी एम को ज्ञापन सौंपा। जिसमे प्रमुख रूप खुर्शीद अहमद, पंकज लाला, शाबान अहमद, यज्ञ प्रताप मिश्रा, रजत गुप्ता, अनुभव यादव, सुधाकर लाला, विवेक तिवारी, नईम राईन, प्रशांत लाला, शिवम गुप्ता, तालिब नज़ीर, प्रभात श्रीवास्तव, शोएब अहमद, एहतिशाम खान, बॉबी वर्मा समेत सैकड़ों युवा मौजूद रहे।                  


कहासुनीः बरसाई ईंटें, चले लाठी-डंडे

अतुल त्यागी (मंडल प्रभारी)
हाापुड़। जनपद के थाना धौलाना क्षेत्र में दो पक्षों में जरा सी
 कहासुनी को लेकर जमकर चले लाठी-डंडे और ईंट पत्थर इतना ही नहीं दोनों पक्ष एक दूसरे की जान पर उतारू हो गए।


बड़े ही बेखौफ तरीके से लाठी-डंडे और ईट पत्थरों से लैस होकर दोनों पक्ष सड़क पर उतर आए और आपस में भिड़ गए इस दौरान दोनों पक्षों में जमकर चले लाठी-डंडे और ईंट पत्थर जिसमें दोनों तरफ से कई लोग घायल हो गए ।


इसी दौरान किसी ने दोनों पक्षों की मार पिटाई का वीडियो बना लिया और सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया अब बड़े ही तेजी से लाठी-डंडों से लैस सड़क पर दोनों पक्षों पर वार करते हुए वीडियो वायरल हो रहा है थाना धौलाना क्षेत्र के गांव दहरा का मामला।


बनियान धारी गैंग ने दो घरों को बनाया निशाना

जनपद हापुड़ के थाना सिंभावली क्षेत्र से बड़ी खबर।
अतुल त्यागी (मंडल प्रभारी)
हापुड़। कच्छा बनियान धारी आधा दर्जन से भी ज्यादा बदमाशों ने दो घरों को बनाया अपना त्निशाना दहशत का माहौल। लाखों रुपए की कीमत के जेवरात और नकदी कच्छा बनियान धारी बदमाश बड़े ही शातिर तरीके से घटना को अंजाम देकर मौके से हुए। हापुड़ के थाना सिंभावली पुलिस की कार्यशैली पर उठ रहे सवाल पुलिस गश्त की खुली पोल व्यापारियों से लेकर आम जनता तक घर से लेकर बाहर तक नहीं सुरक्षित। हापुड़ में कहीं ना कहीं रोज हो रही है लूट और डकैती जैसी वारदातें घर से लेकर बाहर तक कोई भी अपने आप को सुरक्षित नहीं समझ रहा पुलिस गश्त की खुल रही है पोल लोगों में दहशत का माहौल।                       


सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

 सर्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन



 सर्वसाधारण को सूचित किया जाता है मैं मीर हसन पुत्र नसीबुद्दीन निवासी, मकान संख्या-483 सरिता विहार, लोनी ,गाजियाबाद के द्वारा मेरे पुत्र रिजवान एवं उसकी पत्नी रुकैया के व्यवहार और चरित्र के कारण सभी प्रकार के संबंध विच्छेद करता हूं। भविष्य में उनके द्वारा किसी भी प्रकार के कृत्य से मेरा किसी प्रकार कोई संबंध नहीं माना जाए। मो. 8750283831



सैन्य गठजोड़ ने क्षेत्र पर सवालों को जन्म दिया

बीजिंग/ वाशिंगटन डीसी। चीन के खिलाफ अमेरिका, ब्रिटेन और ऑस्ट्रेलिया के नए सैन्य गठजोड़ ने प्रशांत महासागर क्षेत्र को लेकर ने सवालों को जन्म ...