गुरुवार, 19 नवंबर 2020

पीएम बोरिस की क्रांति के लिए प्रतिज्ञा

लंदन। एक वैश्विक घटनाक्रम में यूनाइटेड किंगडम के प्रधान मंत्री बोरिस जॉनसन ने एक हरित औद्योगिक क्रांति के लिए प्रतिज्ञा ली है। उनके नेतृत्व में ली गयी इस प्रतिज्ञा का दावा है कि यूके में न सिर्फ़ ऊर्जा, परिवहन और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में 250,000 नौकरियों का सृजन होगा बल्कि 2030 तक वहां नयी डीजल और पेट्रोल करों की बिक्री पर पूरी तरह से प्रतिबन्ध लग जायेगा।
साथ ही, उसके बाद अगले पाँच सालों में सभी नए निवेश, कारोबार, हीटिंग सिस्टम, और कारों को शून्य कार्बन उत्सर्जन के अनुरूप होना पड़ेगा। यहीं नहीं, 2021 तक ट्रेजरी को सभी निवेश निर्णयों की समीक्षा करनी होगी और ये सुनिश्चित करना होगा कि सभी निवेश शुद्ध शून्य कार्बन के अनुसार हों। और सरकार की जलवायु अनुकूलन टीमों की सभी योजनाएं, विश्व तापमान वर्ष 2100 तक 4c  को ध्यान मैं रखकर बनाना शुरू कर देना चाहिए। इसी क्रम में यह फ़ैसला भी लिया गया कि सभी तरह के व्यवसायों को 'नेट शून्य कार्बन के अनुसार निगरानी और सत्यापन' के लिए बाध्य किया जाना चाहिए। इस बात की भी उम्मीद है कि यूके नए एनडीसी कंट्रीब्यूशन को दिसंबर 2020/जनवरी 2021 तक  प्रस्तुत करेगा।
इस पूरे घटनाक्रम का आधार बनी यूके क्लाइमेट असेम्बली की एक जांच रिपोर्ट जो कहती है कि कोविड के बाद सरकार को सभी भागीदारों (चीन, अमेरिका सहित) के साथ काम करना चाहिए, यह भी सुनिश्चित करना चाहिए कि आर्थिक प्रोत्साहन पैकेज जलवायु-अनुकूल हों ।
इस जांच रिपोर्ट में पाया गया है कि:
* कुल 93% विधानसभा सदस्य पूरी तरह से सहमत थे कि नियोक्ताओं और अन्य लोगों को लॉकडाउन आसान करने के इस तरह के कदम उठाने चाहिए जिससे जीवन शैली में ऐसे बदलाव आएं कि वह नेट ज़ीरो कार्बन उत्सर्जन के अनुरूप हो सकें।
* 79% सदस्यों को लगता था कि नेट जीरो कार्बन उत्सर्जन को प्राप्त करने में मदद के लिए सरकार द्वारा अर्थव्यवस्था को ठीक करने के लिए उठाए गए कदम ठीक हैं लेकिन 9% सदस्य इस बात से असहमत थे ।
इस घटनाक्रम पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट फॉर एनवायरनमेंट एंड डेवलपमेंट (IIED) की वरिष्ठ फेलो डॉ कमिला तौल्मिन कहती हैं, “महामारी के कारण जलवायु सम्बन्धी वार्ताएं लगभग एक वर्ष पीछे चली गई हैं, COP26 के राष्ट्रपति के रूप में हम वर्ष 2020 में जलवायु कार्रवाई में मंदी या देरी को नज़रअंदाज़ नहीं कर सकते हैं। ब्रिटेन में और दुनिया भर में जलवायु का प्रभाव बार बार और लगातार महसूस किया जा रहा है। कई अफ्रीकी देश जलवायु प्रभावों और महामारी की दोहरी मार की वजह से एक गंभीर ऋण संकट का सामना कर रहे हैं । जलवायु संकट थम नहीं रहा है।”
यह रिपोर्ट और प्रधान मंत्री जॉनसन के फ़ैसले दर्शाते हैं कि युके रिकवरी पैकेज पेश करके अंतरराष्ट्रीय नेतृत्व की भूमिका निभा सकता है जिससे आने वाले वक्त में अर्थव्यवस्था, नौकरियों और जलवायु के अनुरूप कम कार्बन उत्सर्जन को बढ़ावा मिलेगा।
आगे, इंस्टीट्यूट फॉर न्यू इकोनॉमिक थिंकिंग (INET) के सीनियर फेलो, एडिअर टर्नर ने कहा, “समिति उन नीतियों के लिए अधिक अवसर प्रदान करने पर जोर देती है जिससे दोनों दिशाओं में प्रगति होगी एक ओर आर्थिक सुधार और दूसरी ओर शून्य कार्बन उत्सर्जन, जो बिल्कुल सही भी है। 
वो आगे कहते हैं, “ब्याज की गिरती हुई दरों को देखते हुए, अब अक्षय ऊर्जा और हरित बुनियादी ढांचे के अन्य रूपों में निवेश करने का समय है;  रोजगार को भारी चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है इसलिए सरकार की नीतियां हरित रोजगार बनाने पर केंद्रित होनी चाहिए और उन फर्मों को सरकारी समर्थन मिलना चाहिए जो  उत्सर्जन में कटौती के लिए ज़्यादा से ज़्यादा प्रतिबद्ध हैं, पुरानी तकनीक पर निर्भर और संभावित रूप से फंसी हुई परीसंपत्तियों का समर्थन करने से बचना चाहिए।”               


1.3 मिलियन कच्चे तेल के गिरने का खतरा

कैरेकस। एक ताज़ा मिली जानकारी के मुताबिक़ वेनेजुएला और त्रिनिदाद के बीच, पारिया की खाड़ी में, एक ख़राब और लगभग डूबते तेल टैंकर से 1.3 मिलियन बैरल के करीब कच्चे तेल के समुद्र में गिरने का ख़तरा बन गया है। अगर इस मात्रा में कच्चा तेल समुद्र में गिरता है तो यह मात्रा 1989 के बहुचर्चित एक्सॉन वाल्डेज़ स्पिल के लगभग पांच गुना के बराबर है। टैंकर पेट्रोसुक्रे नामक कंपनी के स्वामित्व में है, जिसका मालिकाना हक वेनेजुएला की राष्ट्रीय तेल कंपनी पेट्रोलिओस डी वेनेजुएला के पास है, जिसकी 74%हिस्सेदारी है, और इटली की ईनी बाकी 25% की मालिक है। त्रिनिदाद और टोबैगो की एनजीओ फिसरमैन एंड फ्रेंड्स ऑफ द सी पिछले कुछ महीनों से इस स्थिति की निंदा करते हुए इस स्थिति के निपटान की मांग कर रही है। अगस्त की शुरुआत में ही इस एनजीओ ने चेतावनी दी थी कि जहाज़ "खतरनाक तरीके से झुक रहा है और इसके पलटने का खतरा बढ़ रहा है"।                   


प्रदूषण फैलाने वालों को टारगेट नहीं किया

राजनीतिक व्यवस्था में किसान,मजदूर और आम जनता का एक विशाल वर्ग सबसे दीन-हीन और कमजोर वर्ग..!


प्रदूषण के असली कारकों को नजर अंदाज कर सारा दोष किसानों के सिर पर मढ़ कर क्या हासिल..!


देश में वर्तमान समय की राजनीतिक व्यवस्था में किसान, मजदूर और आम जनता का एक विशाल वर्ग सबसे दीन-हीन और कमजोर वर्ग है, क्योंकि सत्ता के कर्णधार पूंजीपतियों के लिए ही अपनी सारी नीतियों को बनाते हैं और उसे बिना हिचक के लागू कराने की कोशिश भी करते हैं। सिर्फ प्रदूषण के मसले पर ही गौर किया जा सकता है। ऐसी खबरें आई कि देश के प्रदूषण में किसानों द्वारा जलाई गई पराली का योगदान चालीस फीसद है। क्या इस आंकड़े को सही माना जा सकता है? अब तक के प्रदूषण डाटा के सर्वेक्षण रिपोर्ट के अनुसार देश के कुल प्रदूषण में बहत्तर फीसद प्रदूषण डीजल-पेट्रोल चालित गाड़ियों से, बीस प्रदूषण कल-कारखानों से और सिर्फ आठ फीसद प्रदूषण में पराली सहित सभी अन्य कारकों से होने वाला प्रदूषण सम्मिलित है।


सवाल है कि आखिर सरकारों के कर्णधार आज तक किसानों को स्वामीनाथन आयोग के सुझावों के अनुसार उनकी फसलों की जायज कीमत (न्यूनतम समर्थन मूल्य) क्यों नहीं देते? केवल इस एकमात्र नीतिगत निर्णय से ही किसानों की आत्महत्या करने और परालीजनित प्रदूषण सहित लगभग अन्य सभी समस्याओं का समाधान हो जाता। दूसरी बात, पराली के निस्तारण का समय से पूर्व समुचित समाधान क्यों नहीं किया जाता है?सरकारें साल भर बिल्कुल नींद की अवस्था में रहतीं हैं। जब किसान अपनी धान की फसल को अगली गेहूं की फसल के समय से बुआई के लिए खेत की साफ-सफाई करने के क्रम में मजबूरी में कटाई से बची पराली (पुआल) को जलाने लगते हैं, तब अचानक सरकारें अपनी कुंभकर्णी नींद से जगतीं हैं! सरकारें किसानों को उनकी फसलों की उत्पादन लागत के अनुसार कीमत न देकर प्रतिदिन किसानों की खुदकुशी के अलावा अब अपने पालित डाटा सर्वेक्षण कार्यालयों के मिथ्या सर्वेक्षणों और किसानों के खिलाफ मनमाफिक फैसलों के जरिए प्रदूषण का मुख्य कारण परालीजनित प्रदूषण को बताने में लगी हैं। प्रदूषण के असली कारकों को नजर अंदाज कर सारा दोष किसानों के सिर पर मढ़ कर क्या हासिल कर लिया जाएगा? सवाल यह भी है कि देश में साठ फीसद तक रोजगार देने वाला कृषि क्षेत्र और अन्नदाता किसानों को पराली को मुद्दा बना कर प्रदूषण का खलनायक बनाने का खेल किसके हित में चल रहा है!


देश को औद्योगिक राष्ट्र बनाने को उद्यत नेता और कथित अर्थशास्त्री अब तक इस देश का कितना विकास कर सके हैं और बेरोजगार युवाओं को कितनी नौकरी दे सके हैं? सरकारी आंकड़ों के अनुसार देश में पिछले पैंतालीस सालों में बेरोजगारी अपने सर्वोच्च स्तर पर है! इस दुखद स्थिति में इस देश की ढहती और बदहाल अर्थव्यवस्था की संबल बनी कृषि को भी बर्बाद करने की कोशिश की जा रही है।


देश का किसान, मजदूर और आम आदमी सबसे कमजोर, असहाय, असंगठित और दरिद्रता से त्रस्त वर्ग है। इसलिए भारतीय समाज के इस अंतिम छोर पर पड़े, किसी तरह अपनी रोटी कमाने-खाने वाले निर्बल समाज को सशक्त, बलशाली और संगठित पूंजीवादपरस्त वर्ग और उनकी संरक्षक सरकारों के कर्णधार अनाप-शनाप आरोप लगा कर उन्हें खलनायक बताने का खेल रच रहे हैं!                                    


नेट ज़ीरो इमारतें बनाना पूरी दुनिया में संभव

दुनिया के लगभग हर हिस्से में नेट-ज़ीरो या नेट-ज़ीरो के करीब बिल्डिंग निर्माण के लिये जरूरी तमाम प्रौद्योगिकी और क्षमताएं पहले से ही मौजूद हैं। यह क्षमताएं विकसित तथा विकासशील, दोनों ही देशों में मौजूद हैं और इनकी लागत भी परंपरागत निर्माण परियोजनाओं की लागत के लगभग बराबर ही है। यह बातें निर्माण क्षेत्र में जलवायु के अनुकूल वैश्विक नवाचार को लेकर हुए एक ताज़ा अध्ययन में सामने आयी हैं। एनुअल रिव्यू ऑफ एनवायरमेंट एंड रिसोर्सेज़ में छपे एक अध्ययन पत्र में कहा गया है कि बिजली, परिवहन और निर्माण क्षेत्रों में कार्बन उत्सर्जन को कम करने के मामले में सबसे बड़ा अंतर पैदा करने की क्षमता है। यह शोध ऐसे समय पर किया गया है जब हमारे शहर और समाज सामूहिक रूप से यह एहसास करने लगे हैं कि लॉकडाउन के दौरान हम कैसे रहते हैं और कैसे अपने घर का मूल्यांकन करते हैं। दुनिया भर में उत्पन्न होने वाली ऊर्जा संबंधी ग्रीन हाउस गैसों के 39% हिस्से के लिए निर्माण क्षेत्र ज़िम्मेदार है और निर्माण संबंधी सामग्री तैयार करने में निकलने वाले कार्बन पर डेढ़ डिग्री सेल्सियस कार्बन बजट के बाकी बचे हिस्से का लगभग आधा भाग तक खर्च हो सकता है।           


अमेरिका के अस्पतालों में बेड कम पड़ने लगे

कोरोना दुनिया में:अमेरिका के अस्पतालों में बेड कम पड़ने लगे, यहां मरने वालों का आंकड़ा अब 2.56 लाख से ज्यादा


न्यूयॉर्क। दुनियाभर में अब तक 5.65 करोड़ से ज्यादा लोग संक्रमण की चपेट में आ चुके हैं। इनमें 3.93 करोड़ लोग ठीक हो चुके हैं। जबकि 13.53 लाख लोगों की जान जा चुकी है। अब 1.58 करोड़ मरीज ऐसे हैं। जिनका इलाज चल रहा है। यानी एक्टिव केस। ये आंकड़े www.worldometers.info/coronavirus के मुताबिक हैं। अमेरिका में हालात बद से बदतर होने लगे हैं। यहां के अस्पतालों में बेड कम पड़ने लगे हैं। मरने वालों का आंकड़ा भी 2.56 लाख हो चुका है।
कार पार्किंग में हॉस्पिटल वॉर्ड
‘द गार्डियन की एक रिपोर्ट के मुताबिक अमेरिका के कुछ राज्यों में हालात अब काबू से बाहर होते जा रहे हैं। संक्रमितों का आंकड़ा तो बढ़ ही रहा है। साथ ही मरने वालों की संख्या भी अब काबू से बाहर होती दिख रही है। बुधवार तक यहां कुल मिलाकार 2.56 लाख लोगों की मौत हो चुकी थी। रिपोर्ट के मुताबिक 77 हजार हजार लोग इस वक्त हॉस्पिटल में हैं। नेवादा और मिशिगन जैसे राज्यों में तो स्थिती और भी खराब है। नेवादा के रेनो शहर के अस्पताल में मरीज इतने बढ़ गए कि कार पार्किंग में वॉर्ड बनाना पड़ा। यहां स्टाफ इतने मरीजों को संभाल भी नहीं पा रहा है।
टेनेसी के डायरेक्टर ऑफ क्रिटिकल केयर डॉक्टर एलिसन जॉनसन ने कहा- सही कहूं तो अब हम अवसाद में हैं। और नाउम्मीद होते जा रहे हैं। हम नहीं कह सकते कि कब हालात सुधरेंगे। इसकी फिलहाल कोई उम्मीद भी नजर नहीं आती। मैंने अपने कॅरियर में कभी नहीं सोचा कि इस तरह के हालात से सामना होगा। इदाहो में डॉक्टरों ने साफ कर दिया है। कि सभी मरीजों को बेड दे पाना मुश्किल हो सकता है।
बुधवार को एक न्यूयॉर्क के वेलहेला हॉस्पिटल से एक गंभीर मरीज को ठीक होने के बाद डिस्चार्ज किया गया। यहां के मेडिकल स्टाफ ने इसे हाथ हिलाकर विदा किया।
ट्रम्प एडमिनिस्ट्रेशन नाकाम
अमेरिका में मरने वालों का आंकड़ा 2.56 लाख के पार हो गया है। लेकिन ट्रम्प एडमिनिस्ट्रेशन अब भी वायरस को गंभीरता से लेने तैयार नहीं है। देश में महज एक हफ्ते में 15 लाख से ज्यादा नए केस सामने आए हैं। ट्रम्प की आलोचना पहले से ज्यादा हो रही है। पिछले दिनों जो बाइडेन ने कहा था। अमेरिका में मरने वालों का आंकड़ा पहले से ज्यादा हो सकता है। हमें सख्त और कठोर फैसले लेने होंगे। अमेरिका में संक्रमितों और मरने वालों का आंकड़ा दुनिया में सबसे ज्यादा है। करीब दो हफ्ते से हर दिन औसतन एक लाख केस सामने आ रहे हैं।
बुधवार को न्यूयॉर्क सिटी एडमिनिस्ट्रेशन ने संकेत दिए कि यहां लॉकडाउन लगाया जा सकता है। स्कूल होटल, रेस्टोरेंट्स और बार बंद किए जा चुके हैं। मिनेसोटा में भी आज लॉकडाउन का ऐलान किया जा सकता है। यहां भी कुछ पाबंदियां लागू कर दी गई हैं।                              


दिल्ली के बाद गुजरात सरकार एक्शन में आईं

अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। भारत में दोबारा बढ़ते कोरोना वायरस के संक्रमण को देखते हुए राज्य सरकारों ने एहतियात बढ़ा दी है। दिल्ली के बाद अब गुजरात सरकार भी एक्शन मोड में आ गई है। जानकारी के मुताबिक, अहमदाबाद में कल से रात्रि कर्फ्यू लगाए जाने की घोषणा की गई है। यह कर्फ्यू रात 9 से सुबह 6 बजे तक लागू रहेगा। वहीं, राज्य में मरीजों के लिए 900 और बिस्तरों के इंतजाम किए गए हैं।                                       


गाजियाबादः यातायात प्रबंधन के लिए विशेष प्रबंध

अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। हर साल की तरह इस साल भी गाज़ियाबाद पुलिस ने छठ पर्व पर यातायात को नियंत्रित करने के लिए विशेष प्रबंध किए हैं। इस बार भी गाज़ियाबाद जिले में छठ पर्व पर मुख्य आयोजन अर्थला हिंडन बैराज, खोड़ा, वैशाली सेक्टर 3-4 और छिजारसी में तैयार किए गए छठ घाटों पर किया जाएगा। इसके लिए पुलिस ने जो ट्रैफिक डायवर्जन लागू किए हैं वे इस प्रकार हैं।                                                    


दिल्ली में मास्क नहीं पहना तो लगेगा जुर्माना

नई दिल्ली। राजधानी दिल्ली में बिना फेस मास्क के सार्वजनिक जगहों पर घूमने वालों के पर अब ₹ 500 की जगह ₹ 2,000 रुपए जुर्माना लगेगा। केजरीवाल सरकार ने दिल्ली हाई कोर्ट की सख्त टिप्पणियों के बाद यह आदेश जारी किए हैं। दिल्ली हाईकोर्ट ने आज सुबह ही दिल्ली सरकार को कोरोना के बढ़ते मामलों पर फटकार लगाई थी। अदालत ने साथ ही यह टिप्पणी भी की है कि दिल्ली में लगातार कोरोना के मामले में बढ़ रहे हैं और जब हमने राज्य सरकार से सवाल किया तब वो हरकत में आई है।                                       


गाजियाबादः नंबर प्लेट के नाम पर खुली लूट जारी

अश्वनी उपाध्याय


गाज़ियाबाद। जनपद में हाई सिक्यूरिटी नंबर प्लेट्स के नाम पर खुली लूट जारी है। करोड़ों रुपए के इस खेल के बारे में अधिकारियों को जानकारी होने के बावजूद संबन्धित विभाग और जिलाधिकारी कार्यालय इस ओर से आंखे बंद किए बैठा है। हालांकि वाहन मालिकों को राहत देने के लिए अभी इस मामले में चालान काटने के बारे में उतनी सख्ती नहीं की जा रही है फिर भी परेशान उपभोक्ता दोगुनी कीमत देने के मजबूर हैं। इनमें उन वाहन मालिकों की संख्या ज्यादा है जिन्हें हर दिन काम-काज के सिलसिले में दिल्ली या नोएडा जाना होता है। वहीं परिवहन विभाग के अफसरों का कहना है कि आनलाइन पोर्टल पर जाकर अधिकृत निर्माता से ही एचएसआरपी बुक करें। ज्यादा रकम वसूलने के मामले में शिकायत मिलने पर आरोपितों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।                                   


कौशाम्बी: कांग्रेसियों ने मनाई इंदिरा की जयंती

कांग्रेसियों ने धूमधाम से मनाई इंदिरा की जयंती


कौशाम्बी। देश के पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की जयंती पर जिला कांग्रेस कमेटी कार्यालय में पार्टी पदाधिकारी एकत्रित हुए और पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के चित्र पर माल्यार्पण कर उन्हें नमन कर उन्हें याद किया। इस मौके पर उपस्थित कांग्रेस नेताओं ने उनके बलिदान को याद करते हुए उस पर चर्चा किया और कहा कि हमें उनके आदर्शों से सीख लेने की जरूरत है। कांग्रेस वक्ताओं ने कहा कि इंदिरा गांधी ने कभी देश की सुरक्षा से समझौता नहीं किया और उनके कार्यकाल में देश सुरक्षित रहा। उन्होंने देश की रक्षा के लिए अपने प्राणों को बलिदान कर दिया इस मौके पर जिला अध्यक्ष अरुण विद्यार्थी, तमजीद अहमद, मुमताज सिद्दीकी, अजीत कुमार कुशवाहा, विष्णु सोनी, राजेंद्र त्रिपाठी, शाहिद सिद्धकी, कौशलेश द्विवेदी, देवेश श्रीवास्तव, इजहार अब्बास, मोहम्मद इसहाक, बेनी प्रसाद सहित तमाम लोग मौजूद रहे।


अजीत कुशवाहा                                 


यूपीः बस दुर्घटना में घायल हुईं तमाम सवारी

रोडवेज बस के दुर्घटनाग्रस्त होने पर घायल हुए तमाम यात्री


कौशाम्बी। रोडवेज बस चालकों की तेज गति पर नियंत्रण नहीं लग रहा है। रोडवेज के चालक ओवरटेक कर जल्दी पहुंचने के चक्कर में अनियंत्रित तरीके से बसों का संचालन कर रहे हैं। बीते दिनों शहजादपुर के पास रोडवेज बस के दुर्घटनाग्रस्त होने से दर्जनों यात्री घायल हुए थे। इसके पहले सैनी कोतवाली क्षेत्र के अझुवा के पास रोडवेज बस के दुर्घटनाग्रस्त होने से दर्जनों लोग घायल हुए थे। बीती रात फिर पूरामुफ्ती थाना क्षेत्र के सल्लाहपुर पुलिस चौकी से कुछ दूरी पर ओवरटेक के चक्कर में एक रोडवेज बस ट्रैक्टर से भिड़ गई है। हादसा तेज था आधा दर्जन सवारी और चार रोडवेज के स्टाफ इस हादसे में घायल हुए हैं, घायलों का इलाज अस्पताल में चल रहा है।लापरवाह चालकों पर विभागीय अधिकारी कार्यवाही नहीं कर रहे हैं जिससे दुर्घटनाएं बढ़ी है।


वाहन जांच के नाम पर ट्रैफिक पुलिस का आतंक

वाहन जांच के नाम पर पुलिस का आतंक


पटरी पर बाइक खड़ी कर सौदा खरीदने गए बाइक का पुलिस ने कर दिया ऑनलाइन चालान


कौशाम्बी। पूरे जिले में विक्रम टेंपो अप्पे प्राइवेट बसें ई-रिक्शा अवैध तरीके से सड़कों पर दौड़ रहे हैं। यह सवारी वाहन सड़क पर वाहन खड़ी कर पूरे दिन सवारियां भरते हैं। लेकिन विक्रम टेंपो अप्पे प्राइवेट बस ई रिक्शा यातायात पुलिस और थाना पुलिस की जांच के दायरे से फिर भी बच जाते हैं। आखिर विक्रम टेंपो अप्पे प्राइवेट बसों ई रिक्शा के गलत होने के बाद भी पुलिस इनका चालान नहीं करती इसके पीछे गंभीर कारण है, वह जन जन की चर्चा में है। इन वाहनों के नंबर लगाने पर भी पूरे दिन वसूली होती है और वसूलने वाले लोग पुलिस के नजदीक दिखाई पड़ते हैं। लेकिन सड़क पर निकलने वाले बाइक सवार ही पुलिस की नजर में सबसे बड़े गुनाहगार होते हैं और बाइकों का चालान कर पुलिस जुर्माने की रकम पूरी करती है छोटे से अपराध पर पुलिस बाइक का चालान कर देती है। अब तो बिना अपराध के भी पुलिस बाइक का चालान कर सरकारी खजाने को भर देना चाहती हैं। ताजा मामला मंझनपुर कोतवाली क्षेत्र का है। मंझनपुर चौराहे के पास पटरी पर बाइक खड़ी कर बाइक मालिक किराने की दुकान से सामान खरीदने गया था और सामान खरीद कर जब वह वापस घर आ गया। जब घर आने पर उसने मोबाइल में मैसेज देखा तो उसकी बाइक का 1000 रुपए का चालान का मैसेज मोबाइल में मिला है। मैसेज देखकर बाइक मालिक परेशान हो गया है आखिर पटरी पर गाड़ी खड़ी करना कौन सा अपराध है, जबकि मंझनपुर कस्बे में ही पूरे दिन चारों रोड पर बड़े दुकानों के बाहर ग्राहकों की बाइक खड़ी होती है। जिससे जाम भी लगता है। लेकिन उन दुकानदारों को पुलिस कर्रा नहीं करती है। पुलिस के इस तरह जबरिया वाहनों का चालान करने से पुलिस की साख आम जनता के बीच खराब हो रही है जो चिंत्तन का विषय है।


अजीत कुशवाहा                                       


बसपा सुप्रीमो के पिता प्रभु दयाल का निधन

बसपा सुप्रीमो मायावती के पिता प्रभु दयाल का निधन 


बृजेश केसरवानी
प्रयागराज। बहुजन समाज पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष के पिता प्रभु दयाल का निधन हो गया है। बसपा के राष्ट्रीय महासचिव सतीश चंद्र मिश्रा की ओर से जारी संदेश में कहा गया है कि स्वर्गीय प्रभु दयाल ने 95 वर्ष की आयु में अंतिम सांस ली है। उनके पार्थिव शरीर का अंतिम संस्कार नई दिल्ली में होगा।बसपा अध्यक्ष मायावती के पिता का गुरुवार को निधन हो गया। उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती के पिता प्रभु दयाल के निधन पर बहुजन समाज पार्टी के समस्त कार्यकर्ता, पदाधिकारी तथा शीर्ष नेतृत्व की ओर से प्रार्थना है कि दिवंगत आत्मा को शांति तथा शोक संतप्त परिवार को इस अपूरणीय क्षति को सहने की शक्ति प्रदान करें।                                   


छठपूजाः आईजी संग संगम घाट निरीक्षण किया

बृजेश केसरवानी


प्रयागराज। इलाहाबाद डीआईजी/एसएसपी सर्वश्रेष्ठ त्रिपाठी द्वारा "छठ पूजा पर्व के दृष्टिगत" संगम, अरैल घाट व बलुआ घाट का निरीक्षण कर सुरक्षा एवं अन्य व्यवस्थाओं के सम्बंध में सम्बन्धित को आवश्यक दिशा निर्देश दिए गए। इस दौरान श्रीमान मण्डलायुक्त प्रयागराज महोदय, श्रीमान पुलिस महानिरीक्षक परिक्षेत्र प्रयागराज महोदय व जिलाधिकारी प्रयागराज मौजूद रहे।                                


28 एडिशनल जजों को राष्ट्रपति ने किया स्थाईंं

इलाहाबाद एचसी के 28 एडिशनल जज हुए स्थाई, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने दी मंजूरी


बृजेश केसरवानी


प्रयागराज। इलाहाबाद हाईकोर्ट में कार्यरत 28 एडिशनल जजों को स्थाई जज बनाया गया है। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने मंजूरी देते हुए 28 एडिशनल जजों को स्थाई जज के पद पर नियुक्ति दी है। मिनिस्ट्री आफ लॉ एंड जस्टिस की ओर से अधिसूचना जारी की गई है। यह आदेश कार्यभार ग्रहण करने की तारीख से प्रभावी होगा। भारत सरकार के ज्वाइंट सेक्रेटरी राजेंद्र कश्यप ने आदेश जारी किया है। 28 एडिशनल जजों से स्थाई जज बनने की लिस्ट में जस्टिस प्रकाश पाडिया, जस्टिस आलोक माथुर, जस्टिस पंकज भाटिया, जस्टिस सौरभ लवानिया, जस्टिस विवेक वर्मा, जस्टिस संजय कुमार सिंह, जस्टिस पीयूष अग्रवाल, जस्टिस सौरभ श्याम शमशेरी, जस्टिस जसप्रीत सिंह, जस्टिस राजीव सिंह, जस्टिस श्रीमती मंजू रानी चौहान, जस्टिस करुणेश सिंह पवार, जस्टिस मनीष माथुर, जस्टिस रोहित रंजन अग्रवाल और जस्टिस रामकृष्ण गौतम को शामिल किया गया है। इनके साथ ही इस लिस्ट में जस्टिस डॉक्टर योगेंद्र कुमार श्रीवास्तव, जस्टिस उमेश कुमार, जस्टिस प्रदीप कुमार श्रीवास्तव, जस्टिस अनिल कुमार नवम्, जस्टिस राजेंद्र कुमार चतुर्थ, जस्टिस मोहम्मद फैज आलम खान, जस्टिस विकास कुमार श्रीवास्तव, जस्टिस वीरेंद्र कुमार श्रीवास्तव, जस्टिस सुरेश कुमार गुप्ता, जस्टिस सुश्री गांडीकोटा श्रीदेवी, जस्टिस नरेंद्र कुमार जौहरी, जस्टिस राजवीर सिंह और जस्टिस अजीत सिंह एडिशनल जज से स्थाई जज बने हैं।                                 


मत्स्य-पालन हेतु पट्टे विधायक ने कराएंं निरस्त

अतुल त्यागी, मुकेश सैनी, प्रवीण कुमार 


हापुड़ः मत्स्य पालन हेतु आवंटित पट्टे को गढ़ विधायक ने कराया निरस्त


हापुड़। जनपद के गढ़मुक्तेश्वर विधानसभा क्षेत्र के सिंभावली ब्लॉक के ग्राम आगापुर सराय के तालाब में मत्स्य विभाग द्वारा मछली पालन हेतु निविदा निकाली थी। जिसके लिए पूरे गांव के लोगों ने उसका विरोध कियाग्रामीणों का कहना है कि इस स्थान पर उनके देवता बने हुए हैं। इस स्थान पर ऐसा करने से धार्मिक व सामाजिक छवि धूमिल हो रही थी। गांव से सूचना प्राप्त होने पर गढ़मुक्तेश्वर विधायक कमल सिंह मलिक ने वहां पहुंचकर तहसीलदार हापुड़, मत्स्य अधिकारी राजीव शर्मा हापुड़ को बुलाकर पट्टे को तुरंत निरस्त कराया। यहा पर पट्टे धारक द्वारा अवैध रूप से बिजली चोरी की जा रही थी। बिजली विभाग के अवर अभियंता (गोहरा उपकेंद्र) को बुलाकर उसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने के निर्देश दिए। विधायक कमल मलिक ने कहा कि योगी सरकार मे किसी भी व्यक्ति को कोई गलत काम नहीं करने दिया जायेगा। विधायक कमल मलिक ने कहा कि मैं अपने क्षेत्र की जनता के साथ खड़ा हूं, उनको कोई परेशानी नहीं होने दूंगा। यदि कोई गलत काम करने पाया जाता है, तो उसके खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया जाएगा।                               


तेज रफ्तार का कहर जारी, युवक की हुईं मौत

अतुल त्यागी, मुकेश सैनी, प्रवीण युवक की हुई मौत कुमार 


हापुड़ में सड़क दुर्घटनाओं का सिलसिला लगातार बढ़ता ही जा रहा है, तेज रफ्तार ट्रक ने बाइक सवार को मारी टक्कर हुई मौत


हापुड़। बाइक सवार की मौके पर ही मौत हो गई। वहीं बाइक पर बैठी महिला गंभीर रूप से घायल हो गई। बाइक सवार पिलखुवा की तरफ से मेरठ की तरफ बाईपास पर जा रहा था।तभी तेज गति से आ रहे ट्रक ने जोरदार टक्कर मार दी। जिससे बाइक सवार की मौके पर ही दर्दनाक मौत हो गई। वहीं महिला गंभीर रूप से घायल हो गई। सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस ने घायल महिला को कराया, पास के निजी अस्पताल में भर्ती मृतक के शव को लिया अपने कब्जे में पोस्टमार्टम के लिए भेजा। मृतक व्यक्ति की पहचान कराने के लिए पुलिस ने काफी देर तक किया प्रयास नहीं हो पाई। पहचान घायल महिला भी कुछ बताने की स्थिति में नहीं है।वही सड़क पर वाहनों की लंबी कतार लग गई। पुलिस ने कराया ट्रैफिक सुचारू हापुड़ के थाना देहात क्षेत्र के मेरठ बायपास का मामला।                                                                


अफवाहः 11 लोगों की जहरीली शराब से हुई मौत

अतुल त्यागी, मुकेश सैनी, प्रवीण कुमार 


हापुड़ में 11 लोगों की जहरीली शराब के सेवन से मौत होने की अफवाह होने से पुलिस प्रशासन में मचा हड़कंप


हापुड़। उत्तर प्रदेश के जनपद हापुड की गंगानगरी ब्रजघाट 48 घण्टो में 11 लोगों की जहरीली शराब के सेवन से मौत होने की की अफवाह होने से पुलिस प्रशासन में हड़कंप मच गया है। अफवाह की पुष्टि करने के लिए एडीएम और एएसपी ने ब्रजघाट पुलिस चौकी पहुंचकर मृतकों के परिजनों से बातचीत कर जानकारी कर गहनता से जांच पड़ताल की है, हालांकि पुलिस प्रशासन के अधिकारियों द्वारा की गई पूछताछ में सभी मृतकों की मौत बीमारी अथवा हार्ट अटैक से होना बताया गया है। लेकिन अधिकारी भी बारीकी से जांच पड़ताल कर रहे है। दरसल आपको बता दे कि गंगा नगरी ब्रजघाट में 48 घंटे के दौरान 11 लोगों की संदिग्ध दशा में मौत हो गई।जिससे 11 लोगो की मौत से गंगा नगरी में शोक की लहर दौड़ गई। वहीं आज मौतों के मामले तुल पकड़ लिया ओर लोगों में जहरीली शराब के सेवन से मौत होने की चर्चा तेज हो गई।जहरीली शराब के सेवन से गंगा नगरी में 11 लोगों की माैत होने की अफवाह से जनपद के पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों में हड़कंप मचा हुआ है। वही आज एडीएम जयनाथ यादव और आबकारी आयुक्त राम मणि नाथ त्रिपाठी, एएसपी सर्वेश मिश्रा, जिला आबकारी अधिकारी महेंद्र पांडेय, सीओ पवन कुमार, गढ़ आबकारी निरीक्षक सीमा कुमारी ब्रजघाट स्थित पुलिस चौकी पर पहुंचे और मृतकों के परिजनों से जानकारी की है। जहां मृतकों के स्वजनों ने पूछताछ में किसी की मौत हरनियां, किसी की हार्ट अटैक, जबकि किसी की लंबी बीमारी से होने की बात कहीं है। पुलिस ने परिजनों के अलावा आस पास के लोगों के ब्यान भी दर्ज किए है। वहीं पुलिस चौकी में जनपद के आला अधिकारियोें को देखकर गंगा नगरी के लोगों में तरह तरह की चर्चाएं शुरू हो गई है। वही आबकारी विभाग की टीम ने जगह जगह से ठेकों से शराब के सेम्पल लेकर जाँच शुरू कर दी है। लेकिन मामला संदिग्ध होने के बाद भी किसी भी मृतक का पोस्टमार्टम नहीं कराया है।                             


देश में कोरोना के 45,576 नए मामले मिलें

देश में कोरोना के 45,576 नए केस आए सामने, 585 लोगों की गई जान 


अकांशु उपाध्याय


नई दिल्ली। देश में कोरोना का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है। दिवाली के बाद देश में कोरोना संक्रमितों की संख्या में उछाल देखने को मिल रहा है। देश में पिछले 24 घंटे के भीतर कोरोना के 45,576 नए केस सामने आए हैं और 585 लोगों की मौत हो गई है। इनमें सबसे ज्यादा मामले महाराष्ट्रा व दिल्ली से सामने आए है। देश में 18 नवंबर तक कुल कोरोना के 12,85,08,389 सैंपल टेस्ट किए गए भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद के मुताबिक, देश में 18 नवंबर तक कोरोना वायरस के लिए कुल 12,85,08,389 सैंपल टेस्ट किए गए, जिनमें से 10,28,203 सैंपल कल टेस्ट किए गए।                         


दोहरा चरित्र देश की अखंडता के लिए खतरा

कांग्रेस का दोहरा चरित्र देश की अखंडता के लिए खतरा: योगी


हरिओम उपाध्याय


लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गुरूवार को कहा कि जम्मू कश्मीर के संबंध में कांग्रेस का दोहरा रवैया देश की एकता और अखंडता के लिये बड़ा खतरा है। मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि कांग्रेस दशकों से राष्ट्रीय अस्मिता के साथ खिलवाड़ करती रही है। कांग्रेस प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से उन तत्वों को उत्साहित करती रही है जो देश के अंदर अलगाववाद और अराजकता को बढ़ावा देते हैं। जम्मू कश्मीर के अंदर कांग्रेस का दोहरा चेहरा देश की जनता के सामने आया है। उन्होंने कहा कांग्रेस ही वह पार्टी है जिसने एक भारत श्रेष्ठ भारत की परिकल्पना को कभी साकार नहीं होने दिया। कांग्रेस ने धारा 370 को छल से लागू करके जम्मू कश्मीर में अलगाववाद को बढ़ावा दिया और इसके जरिये देश के अलग अलग हिस्सों में आतंकवाद को प्रोत्साहित किया।
उन्होंने कहा कि देश प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह की आभारी है जिन्होने पांच अगस्त 2019 को कश्मीर में धारा 370 को और 35 ए के प्रावधान को समाप्त करते हुये एक भारत श्रेष्ठ भारत की परिकल्पना का साकार किया। धारा 370 ने केवल अलगाववाद का कारण थी अपितु जम्मू कश्मीर के विकास में भी बाधक थी।
मुख्यमंत्री ने कहा कि धारा 370 को हटाने का उपरांत जम्मू कश्मीर के कुछ नेताओं ने आपसी समझौता किया था जो गुपकार कंनवेंशन कहलता है और इस पर हस्ताक्षर करने वाले लोगों में क्षेत्रीय दलों के साथी कांग्रेस के भी नेता हैं। उन्होंने कहा कि पूर्व गृहमंत्री और वित्त मंत्री पी चिंदबरम जम्मू कश्मीर में 370 की बहाली की बात बार-बार करते रहे हैं। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नवी आजाद 370 की बहाली की बात करते है।             


भारत में ग्रीन रिकवरी ला सकती है बढ़त

भारत में ग्रीन रिकवरी ला सकती है जीडीपी में स्थायी बढ़त


अकांशु उपाध्याय


नई दिल्ली। भारत अगर कोविड की आर्थिक मार से निबटने और उबरने के प्रयासों में पर्यावरण अनुकूल कदम लेगा तो उसकी जीडीपी स्थायी रूप से बढ़ सकती है। केम्ब्रिज युनिवेर्सिटी से जुड़े तीन संस्थानों ने साझा प्रयास से एक रिपोर्ट जारी कर न सिर्फ़ यह कहा है कि पर्यावरण अनुकूल आर्थिक सुधार कदम एक आम रिकवरी स्टिमम्युल्स से बेहतर होते हैं, बल्कि भारत के केस में तो ग्रीन रिकवरी हमेशा के लिए भारत की जीडीपी को बढ़ा सकती है। और रिपोर्ट के मुताबिक़ भारत में तो यह असर ऐसे होंगे कि 2030 तक कोविड के सभी बुरे असर हमारी अर्थव्यवस्था से हट जायेंगे। कैंब्रिज इकोनोमेट्रिक्स द्वारा बनाई गयी और वी मीन बिज़नेस और कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी के कॉर्पोरेट लीडर्स ग्रुप द्वारा साझा रूप से प्रकाशित इस रिपोर्ट में कहा गया है कि जहाँ आम रिकवरी स्टिमम्युल्स पैकिज कोविड से पहले की स्थिति पर वापस ले जाने की बात करते हैं,वहीँ ग्रीन रिकवरी हमेशा के लिए सकारात्मक बदलाव का वादा करती है।             


महामारियों के युग से बचना मुश्किलः विशेषज्ञ

वैश्विक रवैये में बदलाव के बिना महामारियों के युग से बचना मुश्किल: विशेषज्ञ 

 

वाशिंगटन डीसी। संक्रामक बीमारियों से लड़ने के लिये वैश्विक रवैये में अगर आमूल-चूल बदलाव नहीं किये गये तो भविष्‍य में महामारियां जल्‍दी-जल्‍दी उभरेंगी। साथ ही वे ज्‍यादा तेजी से फैलेंगी, दुनिया की अर्थव्‍यवस्‍था को और ज्‍यादा नुकसान पहुंचाएंगी और कोविड-19 के मुकाबले ज्‍यादा तादाद में लोगों को मारेंगी। ऐसा दावा है दुनिया के 22 शीर्ष विशेषज्ञों का जिन्होंने आज जैव-विविधता और महामारियों को लेकर एक रिपोर्ट जारी कर यह चेतावनी दी है।

इंटरगवर्नमेंटल साइंस-पॉलिसी प्‍लेटफार्म और बायोडायवर्सिटी एण्‍ड इकोसिस्‍टम सर्विसेज (आईपीबीईएस) द्वारा कुदरत में आ रही खराबियों और महामारियों के बढ़ते खतरों के बीच सम्‍बन्‍धों पर चर्चा के लिये आयोजित एक आपात वर्चुअल वर्कशॉप में विशेषज्ञ इस बात पर सहमत दिखे कि महामारियों के युग से बचा जा सकता है, बशर्ते महामारियों के प्रति अपने रवैये में बुनियादी बदलाव लाकर प्रतिक्रिया के बजाय रोकथाम पर ध्‍यान दिया जाए। बृहस्‍पतिवार को जारी रिपोर्ट के मुताबिक कोविड-19 वर्ष 1918 में फैली ग्रेट इंफ्लूएंजा महामारी के बाद से अब तक आयी कम से कम छठी वैश्विक महामारी है। हालांकि इसकी शुरुआत जानवरों द्वारा लाये गये माइक्रोब्‍स से हुई, मगर अन्‍य सभी महामारियों की तरह यह भी पूरे तरीके से इंसान की नुकसानदेह गतिविधियों की वजह से फैली। ऐसा अनुमान है कि स्‍तनधारियों और पक्षियों की विभिन्‍न प्रजातियों में इस वक्‍त 17 लाख ‘अनखोजे’ वायरस मौजूद हैं। उनमें से लगभग 85 हजार ऐसे हैं जो इंसान को संक्रमित करने की क्षमता रखते हैं।                    

पंजाबः 5 लोगों की जिंदा जलने से हुई मौत

पांच की जिन्दा जलने से हुई मौत, कार की कैंटर से हुई थी टक्कर


राणा ऑबरॉय


चंडीगढ़। पंजाब प्रान्त के संगरूर-सुनाम मार्ग पर हुए एक सड़क हादसे में कार सवार पांच लोगों की जिन्दा जल जाने से मौत हो गई। बताया गया कि पांचों व्यक्ति किसी शादी समारोह में शामिल होने गये थे और आपस में गहरे दोस्त थे। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक मृतकों की पहचान हो चुकी है। जिसमें बलविन्द्र सिंह,कुलतार सिंह,कैप्टन सुखविंदर सिंह,सुरेन्द्र सिंह तथा चमकौर सिंह बताये गये है जो मोगा जिले के निवासी है।बताया गया की यह हादसा सुनाम संगरूर क्षेत्र में एक पुल के नीचे कार की कैंटर से टक्कर होने से कार में आग लगने के कारण हुआ है। "जन सच"सम्पादक हिन्दी समाचार पत्र के दैनिक,साप्ताहिक एवं पत्रिका तथा सोशल मीडिया के कई प्लेटफार्मों पर काम कर चुके हैं। पत्रकारिता के क्षेत्र में 22 वर्षों के एक लम्बे अनुभव के बाद "जन सच"पोर्टल को इस विश्वास के साथ चला रहे हैं कि सच्ची और सही खबरें पाठकों को सुलभता के साथ उपलब्ध हो सके। विस्फोटक के साथ तीन नक्सली गिरफ्तार,एक पर था दो लाख का इनाम गोली मारकर की हत्या,लूटे पांच लाख बदमाशों को पकड़ने के लिए पुलिस ने जाल बिछाया।


हिसार: दोस्ती के बाद हुई गैंगरेप का शिकार

पहले पति से तलाक, दूसरे से लव मैरिज, तीसरे से फोन पर दोस्ती, मिलने गई तो हुई गैंगरेप की शिकार


हिसार। हिसार के एक गांव में युवती के साथ रातभर दुष्कर्म करने और सुबह गांव के ही रोड पर फेंककर भागने का मामला सामने आया है। घटना के बाद ग्रामीणों ने पुलिस को सूचना दी । जिसके बाद पुलिस की टीम ने मौके पर पहुंचकर पीड़िता को अस्पताल में भर्ती करवाया है।
पीड़िता ने बताया कि वह हाल में गुरुग्राम में रहती है और उसकी पहली शादी कोशी पलवल में साल 2013 में हुई थी, जिससे वह खुश नहीं थी और कुछ समय पहले ही तलाक ले लिया था। अब उसने साल 2016 में दनौदा के एक युवक के साथ प्रेम विवाह किया था, जिसके बाद उसकी दो साल की बेटी भी है। पीड़िता ने बताया कि इस प्रेम विवाह के उसके माता पिता खुश नहीं थे। जिसके चलते दनौदा निवासी युवक के साथ उनका झगड़ा चल रहा था। अब पीड़िता ने बताया कि कुछ दिन पहले उसकी फोन पर अनिल नामक युवक के साथ फोन पर बातचीत हुई और दोस्ती हो गई। अब वह गुरुग्राम में अपने किसी रिश्तेदार के साथ रह रही थी।
सोमवार को अनिल ने उसे अग्रोहा बुला लिया था। जिसके बाद वह उसे बाइक पर बैठाकर बरवाला रोड पर लेकर गया था। कुछ दूरी पर चलने के बाद उसने बाईक खड़ी कर दी और कार में बैठा लिया था। कार में दो युवक पहले से ही बैठे थे, जो खेतों में बने एक सुनसान कमरे में ले गए और वहां पर सभी ने दुष्कर्म किया। पीडिता ने बताया कि युवकों ने उसे कोल्ड ड्रिंक में कुछ नशीला पदार्थ मिलाकर पीने के लिए दिया जिससे वह अचेत हो गई सुबह उसने अपने आप को गांव नंगथला के पास सड़क पर पड़े हुए पाया। अग्रोहा थाना प्रभारी इंस्पेक्टर गुरमीत सिंह ने बताया कि पुलिस पूरे मामले की जांच पड़ताल में लगी हुई है इसके साथ क्षेत्र में लगे सीसीटीवी आदि की फुटेज को खंगाला जा रहा है आरोपितों को बहुत जल्द ही काबू कर लिया जाएगा।           


संकल्प को और मजबूत करता है भारत: मोदी

विश्व शौचालय दिवस: भारत सभी के लिए शौचालय के अपने संकल्प को और मजबूत करता है- मोदी


नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बृहस्पतिवार को विश्व शौचालय दिवस के मौके पर सभी के लिए शौचालय के संकल्प को दोहराया। उन्होंने कहा कि पिछले कुछ सालों में करोड़ों लोगों के लिए रोगाणुमुक्त शौचालयों का निर्माण कर भारत ने अभूतपूर्व उपलब्धि हासिल की है।
उन्होंने ट्वीट कर कहा कि विश्व शौचालय दिवस पर भारत सभी के लिए शौचालय के अपने संकल्प को और मजबूत करता है। पिछले कुछ सालों में भारत ने करोड़ों भारतीयों को रोगाणुमुक्त शौचालय उपलब्ध कराने की अभूतपूर्व उपलब्धि हासिल की है। इससे लोगों खासकर नारी शक्ति को सम्मान के साथ-साथ स्वास्थ्य लाभ भी मिला है।
ज्ञात हो कि जल शक्ति मंत्रालय के पेयजल और स्वच्छता विभाग की ओर से स्वच्छ भारत मिशन- ग्रामीण के अंतर्गत आज विश्व शौचालय दिवस का आयोजन किया गया है। यह दिन स्वच्छता के बारे में जागरूकता बढ़ाने और लोगों को शौचालय का उपयोग करने को प्रोत्साहित करने के लिए मनाया जाता है।             


कुर्सी के लिए कुछ भी कर सकते हैं नीतीश

कुर्सी के लिये कुछ भी कर सकते हैं नीतीश: राजद


अविनाश श्रीवास्तव


पटना। बिहार सरकार में जदयू कोटे से डॉ. मेवालाल चौधरी को शिक्षा मंत्री बनाये जाने को लेकर उठा विवाद थमता नहीं दिख रहा है और विपक्षी राष्ट्रीय जनता दल ने बृहस्पतिवार को फिर से मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर निशाना साधते हुए कहा कि कुर्सी के लिये वे कुछ भी कर सकते हैं। उल्लेखनीय है कि मेवालाल चौधरी पर असिस्टेंट प्रोफेसर की नियुक्ति में कथित अनियमितता के आरोप हैं। राष्ट्रीय जनता दल के नेता तेजस्वी यादव ने ट्वीट कर सवाल किया, ‘‘आदरणीय नीतीश कुमार जी, मेवालाल जी के केस में तेजस्वी को सार्वजनिक रूप से सफाई देनी चाहिए कि नहीं?’’ उन्होंने कहा कि अगर आप चाहे तो मेवालाल के संबंध में आपके सामने मैं सबूत सहित सफाई ही नहीं बल्कि गाँधी जी के सात सिद्धांतों के साथ विस्तृत विमर्श भी कर सकता हूँ। तेजस्वी ने कहा, ‘‘आपके जवाब का इंतज़ार है।’’
राजद नेता ने कहा कि मुख्यमंत्री द्वारा हत्या और भ्रष्टाचार के अनेक मामलों में भारतीय दंड संहिता की धारा 409, 420, 467, 468, 471 और 120ब के तहत आरोपी मेवालाल चौधरी को शिक्षा मंत्री बनाने से बिहारवासियों को क्या शिक्षा मिलती है? वहीं, राजद के आधिकारिक ट्वीट में कहा गया है कि नीतीश कुमार फजीहत, शर्म, मर्यादा, नैतिकता, शुचिता, अंतरात्मा, लोकलाज, आदर्श इत्यादि से ऊपर उठ चुके है क्योंकि यह सब उनमें बचा ही नहीं है। विपक्षी पार्टी ने कहा कि कुर्सी के लिए वह (नीतीश) कुछ भी कर सकते है। कुर्सी ही उनके लिए शाश्वत सत्य है। गौरतलब है कि नवनिर्वाचित जदयू विधायक डॉ. मेवालाल चौधरी को राज्य की तारापुर विधानसभा सीट से जीत मिली है। उन्हें पहली बार नीतीश कुमार के नेतृत्व वाले मंत्रिमंडल में शामिल किया गया है। राजनीति में प्रवेश से पहले मेवालाल भागलपुर कृषि विश्वविद्यालय के कुलपति थे। असिस्टेंट प्रोफेसर की नियुक्ति में अनियमितता के आरोपों और एफआईआर दर्ज किये जाने के मद्देनजर चौधरी को सल 2017 में नीतीश कुमार नीत जदयू से निलंबित कर दिया गया था। यह मामला साल 2012 में असिस्टेंट प्रोफेसर और कनिष्ठ वैज्ञानिकों की नियुक्ति में कथित अनियमितता से संबंधित है।भाजपा ने भी तब चौधरी के खिलाफ मुद्दे को जोरदार ढंग से उठाया था जब वह महागठबंधन सरकार के समय विपक्ष में थी। इस मुद्दे को लेकर राजद सहित विभिन्न विपक्षी दलों ने बुधवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को घेरा था और मंत्री को बर्खास्त करने की मांग की थी। भाकपा-माले के प्रदेश सचिव कुणाल ने कहा है कि विधानसभा सत्र के पहले दिन उनकी पार्टी के विधायक विरोध दर्ज करायेंगे। भाकपा-माले के विधानसभा में 12 विधायक हैं। इस मुद्दे को लेकर जारी सियासी घटनाक्रम के बीच मेवालाल चौधरी ने बुधवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से मुलाकात की थी।           


हिमाचलः वायरस की चपेट में आया पूरा गांव

हिमाचल: एक व्यक्ति को छोड़कर पूरा गांव आया कोरोना की चपेट में


लाहौल स्पीति। हिमाचल प्रदेश में कोरोना का कहर अभी भी जारी है। आए दिन सैंकड़ों में केस आ रहे हैं जिससे प्रशासन के भी हाथ-पांव फूले हुए हैं। वहीं अब खबर आई है कि जनजातीय जिले लाहुल-स्पीति के थोरग गांव में एक व्यक्ति को छोड़कर सभी 42 लोग कोरोना की चपेट में आए हैं। आदमी की पत्नी सहित परिवार के छह लोग भी संक्रमित हैं। भूषण ठाकुर (52) गांव के एकमात्र व्यक्ति हैं जो संकम्रमित नहीं है । भूषण ने कहा कि वह कोरोना से बचाव के लिए पूरे नियमों का पालन करते हैं। सीएमओ लाहुल-स्पीति डा. पलजोर ने कहा कि शायद भूषण की प्रतिरक्षा प्रणाली बहुत मजबूत है।
गांव के सभी लोगों की रिपोर्ट पाॅजिटिव आने से भूषण का नेगेटिव आना आश्चर्यजनक है। गांव के पांच लोग पहले सकारात्मक आए थे, जिसके बाद बाकी लोगों ने स्वेच्छा से चार दिन पहले परीक्षण करवाने का फैसला किया। हालांकि इस गांव में करीब 100 लोग रहते हैं, लेकिन बर्फबारी के चलते इन दिनों कई लोग कुल्लू चले गए हैं। भूषण ने कहा कि जब से परिवार के सदस्य पॉजिटिव आए हैं, तब से वह अलगाव में है। यहां तक कि खाना भी खुद बना रहे हैं। परिजनों के साथ उन्होंने भी चार दिन पहले सैंपल दिया था। रिपोर्ट में परिवार के अन्य लोग पॉजिटिव निकले।             


1 करोड़ जीतने के बाद आइपीएस ने खरीदी मैगी

केबीसी में 1 करोड़ जीतने के बाद हिमाचल की आइपीएस अफसर ने खरीदी मैगी, निकली ऐसी चीज खुशी का नहीं रहा ठिकाना


शिमला। हिमाचल की आईपीएस आॅफिसर मोहिता शर्मा गर्ग ने कौन बनेगा करोड़पति के 12वें में 1 करोड़ रुपये जीतने के बाद मैगी एक छोटी पैकेट खरीदी। इस पैकेट में उन्हें एक नहीं बल्कि मसाले के दो पैकेट मिले। इसके बाद उनकी खुशी का ठिकाना नहीं रहा। उन्होंने इसके बाद अपने आॅफिशियल ट्विटर अकाउंट पर एक ट्वीट किया। आईपीएस मोहिता शर्मा ने इस ट्वीट के माध्यम से बताया कि उन्हें मैगी में एक नहीं दो-दो मसाले का पैकेट मिला। उन्होंने कहा कि इसे कहते हैं किस्मत। उन्होंने 12 रुपये वाली मैगी खरीदी थी, जिसमें दो मसाले के पैकेट निकले थे। मैगी के एक पैकेट में एक मसाले का पैकेट होता है लेकिन उनके मैगी से दो मसाले का पैकेट निकला। इस पर उन्होंने ट्वीट कर लिखा, एक करोड़ जीतने के बाद के पैकेट में 2 मसाला पाउच मिले। कभी सोचा नहीं था कि इतना भाग्यशाली होगा।                     


रानी लक्ष्मीबाई को योगी-अखिलेश की श्रद्धांजलि

संदीप मिश्र


लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और मुख्य विपक्षी दल समाजवादी पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव ने गुरूवार को प्रथम स्वतंत्रता संग्राम की नायिका वीरंगना लक्ष्मीबाई को श्रद्धाजंलि अर्पित की।


योगी आदित्यनाथ ने ट्वीट किया " भारत की नारी शक्ति के अदम्य साहस, अप्रतिम सामर्थ्य व अपरिमित त्याग की प्रतीक, शत्रुओं को "नाकों चने चबवाने" वाली अद्भुत वीरांगना, महारानी लक्ष्मीबाई जी की जयंती पर उनकी पुनीत स्मृतियों को कोटि-कोटि नमन एवं प्रदेशवासियों को हृदय से बधाई व मंगलमय शुभकामनाएं।"


सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने ट्वीट किया " नमन उन्हें जो वीर-वनिता झाँसी की रानी थीं, जो सच्ची राष्ट्रभक्त और सच्ची बलिदानी थीं। रानी लक्ष्मीबाई जयंती पर उनके अदम्य साहस को शौर्यपूर्ण नमन।"                                             


वायरसः दिल्ली सीएम ने सर्वदलीय बैठक बुलाईंं

दिल्ली में कोरोना कंट्रोल से बाहर, सीएम केजरीवाल ने बुलाई सर्वदलीय बैठक


हरिओम उपाध्याय


नई दिल्ली। भारत की राजधानी दिल्ली में कोरोना ने एक बार फिर रफ्तार पकड़ ली है। सीएम केजरीवाल के लिए कोरोना वायरस गले की फांस बन गई है। दिल्ली के रहवासी भी इससे चिंतित है। इसे देखते हुए सीएम केजरीवाल ने सर्वदलीय बैठक बुलाई है। मुख्यमंत्री केजरीवाल सभी पक्षों से कोरोना के रोकथाम के सुझाव मांगेंगे।
बता दें दिल्ली में 28 अक्टूबर के बाद से कोविड-19 के नए मामलों में काफी वृद्धि दर्ज की गई है। 28 अक्टूबर को रोज सामने आने वाले मामलों का आंकड़ा पहली बार 5,000 के पार कर गया था। 11 नवंबर को यह संख्या 8,000 का आंकड़ा पार कर गई थी।
बैठक के लिए आम आदमी पार्टी (आप), भाजपा, कांग्रेस और अन्य दलों के नेताओं को बुलाया गया है। विपक्षी दल अपर्याप्त जांच जैसे मुद्दे उठाएंगे और ऐहतियाती कदमों के उचित क्रियान्वयन पर जोर देंगे।                                     


सीबीआई जांच के लिए राज्य की अनुमति

जांच के लिए सीबीआई को संबंधित राज्यों से अनुमति लेने की जरूरत सुप्रीम कोर्ट ने दिया बड़ा फैसला


अकांशु उपाध्याय


नई दिल्ली। केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) की छानबीन के अधिकार क्षेत्र के संबंध में अक्सर सवाल उठते रहे हैं। अक्सर यह सवाल सामने आता है। कि क्या जांच के लिए सीबीआई को संबंधित राज्यों से अनुमति लेने की जरूरत होगी। अब सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में बड़ा फैसला सुनाया है। अब सीबीआई जांच के लिए संबंधित राज्य से अनुमति लेना अनिवार्य होगा एक फैसले में सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को इसकी पुष्टि करते हुए कहा कि ये प्रावधान संविधान के संघीय चरित्र के अनुरूप है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा है। कि दिल्ली विशेष पुलिस स्थापना अधिनियम में, जिसमें शक्तियों और अधिकार क्षेत्र के लिए सीबीआई के लिए राज्य सरकार की सहमति की आवश्यकता है। ये प्रावधान संविधान के संघीय चरित्र के अनुरूप है।
अभी हाल ही में महाराष्ट्र सरकार ने एक आदेश जारी किया था। और कहा था। कि राज्य में जांच करने के लिए सीबीआई को दी गई अनुमति वापस ली जाती है। हालांकि जांच की अनुमति महाराष्ट्र सरकार के वापस लेने से जारी छानबीन पर कोई असर नहीं पड़ेगा लेकिन अगर भविष्य में सीबीआई महाराष्ट्र में किसी नए मामले में जांच पड़ताल करना चाहती है। तो उसे राज्य सरकार से इजाजत लेने की जरूरत होगी। जब तक कि अदालत की तरफ से जांच के आदेश नहीं दिए गए हों।                                 


'झुंड' की रिलीज का निर्णय, 6 माह के बाद

रिलीज पर रोक सुप्रीम कोर्ट 'झुंड' की रिलीज पर 6 महीने में निर्देश जारी करेगा, अपोजिशन के वकील ने कहा- तब तक फिल्म बेकार हो जाएगी


कविता गर्ग


मुंबई। अमिताभ बच्चन की फिल्म झुंड की मुसीबतें खत्म होती नहीं दिख रही हैं। कुछ महीनों पहले झुंड के मेकर्स पर नंदी चिन्नी कुमार ने कॉपीराइट उल्लंघन का आरोप लगाते हुए केस फाइल किया था। इसके बाद फिल्म की रिलीज पर स्टे लगा दिया गया था। ताजा जानकारी के मुताबिक झुंड को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने तेलंगाना हाई कोर्ट के फैसले को जस का तस रहने दिया है। यानी झुंड की रिलीज पर स्टे ऑर्डर लागू रहेगा।
सुप्रीम कोर्ट की बेंच बोली- 6 महीने में निपटाएंगे केस
लाइव लॉ की खबर के अनुसार सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को टी-सीरीज और नागराज मंजुले की स्पेशल लीव पिटीशन पर अपना फैसला सुनाया। सीजीआई एस ए बोबडे जस्टिस एएस बोपन्ना और वी रामासुब्रमण्यम की बेंच ने इस अपील पर तेलंगाना हाईकोर्ट का फैसला ज्यों का त्यों रखा। इस दौरान सीजीआई ने प्रोड्यूसर्स से कहा- हम 6 महीने के भीतर मुकदमा निपटाने के लिए निर्देश जारी करेंगे।
इस पर वकील ने जवाब दिया, फिल्म 6 महीने बाद बेकार हो जाएगी। 1.3 करोड़ रुपये के समझौते की बात हुई है। अब वे इसका पालन नहीं कर रहे हैं। कृपया इस पर प्राथमिकता से विचार करें। हालांकि कोर्ट ने उनकी याचिका खारिज कर दी।
मई से चल रहा विवाद
नंदी चिन्नी कुमार ने 13 मई को कुकटपल्ली अदालत में कॉपीराइट उल्लंघन का मुकदमा दायर किया था। 17 सितंबर को तेलंगाना हाईकोर्ट ने आदेश मिलने तक भारत और विदेश में बिग बी की फिल्म झुंड की रिलीज पर रोक लगा दी थी। साथ ही इसे स्ट्रीमिंग प्लेटफ़ॉर्म नेटफ्लिक्स और अमेजन प्राइम वीडियो पर भी फिल्म की स्क्रीनिंग या रिलीज़ पर रोक लगा दी थी। फिल्म में अमिताभ बच्चन ने एक फुटबॉल कोच, विजय बरसे की भूमिका निभाई है।                                  


स्टार स्ट्राइकर सालाह व अल-नानी फिर संक्रमित

दूसरी कोरोना रिपोर्ट भी पॉजिटिव: इजिप्ट के स्टार स्ट्राइकर मोहम्मद सालाह और अल-नानी फिर संक्रमित, चैम्पियंस लीग मैच नहीं खेलेंगे


इजिप्ट और इंग्लिश क्लब लिवरपूल के स्टार स्ट्राइकर मोहम्मद सालाह और आर्सेनल के मिडफिल्डर मोहम्मद अल-नानी की कोरोना दूसरी कोरोना जांच रिपोर्ट भी पॉजिटिव आई है। इजिप्शियन फुटबॉल एसोसिएशन ने बुधवार को इसकी पुष्टि की
अफ्रीका कप में पॉजिटिव पाए गए सालाह
सालाह 14 नवंबर को पहली बार कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे। उस वक्त वे अफ्रीका कप में अपने देश की ओर से खेल रहे थे। वहीं अल-नानी में इसके 3 दिन बाद कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई थी।
चैम्पियंस लीग मैच नहीं खेलेंगे सालाह
कोरोना की वजह से सालाह लीसेस्टर सिटी के खिलाफ रविवार को होने वाला मैच नहीं खेल पाएंगे। वे फिलहाल प्रीमियर लीग में 8 गोल्स के साथ लीग के जॉइंट टॉप स्कोरर हैं। वहीं एटलांटा के खिलाफ 25 नवंबर को होने वाले चैम्पियंस लीग मैच में भी उनके खेलने की संभावना बेहद कम है।
यूरोपा लीग मैच नहीं खेलेंगे अल-नानी
आर्सेनल के अल-नानी रविवार को लीड्स यूनाइटेड के खिलाफ मैच मिस कर सकते हैं। वहीं, 26 नवंबर को मोल्ड के खिलाफ होने वाले यूरोपा लीग मैच में भी वे नहीं खेलेंगे।
सुआरेज कोरोना पॉजिटिव पाए गए
इससे पहले सोमवार को इंग्लिश प्रीमियर लीग ( आईपीएल) में फुटबॉलर और स्टाफ समेत 16 लोगों की कोरोना टेस्ट रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी। जून से फुटबॉल की वापसी के बाद एक हफ्ते में इतने ज्यादा संक्रमित पहली बार मिले थे। हालांकि मैनेजमेंट ने संक्रमितों के नाम नहीं बताए थे।
ब्राजील के खिलाफ वर्ल्ड कप क्वालिफायर नहीं खेलेंगे सुआरेज
उरुग्वे के स्ट्राइकर लुइस सुआरेज भी संक्रमित पाए गए थे। इस वजह से वे ब्राजील के खिलाफ वर्ल्ड कप क्वालिफायर मैच नहीं खेल पाएंगे। सुआरेज से पहले उरुग्वे के गोलकीपर रोड्रिगो मुनोज और एक टीम ऑफिशियल भी संक्रमित पाए गए थे।                                         


गो सरंक्षण अध्यादेश का अखाड़ा ने स्वागत किया

बृजेश केसरवानी


प्रयागराज। गो-संरक्षण अध्यादेश का अखाड़ा परिषद ने किया स्वागत, नरेंद्र गिरी ने कहा- यूपी की तर्ज पर सभी राज्यों में लाया जाए गो अध्यादेश। साधु-संतों की सर्वोच्च संस्था अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि ने गो-वध निवारण संशोधन अध्यादेश 2020 का स्वागत किया है। उन्होंने कहा है। कि गो वंश संरक्षण के लिए प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने यह साहसिक फैसला लिया है। उनके द्वारा लाये गये इस अध्यादेश का देश के संत-महात्मा भी स्वागत और समर्थन कर रहे हैं। इस अध्यादेश के लागू होने पर गोवध करने से लोग डरेंगे।
महंत नरेंद्र गिरि ने कहा कि इस अध्यादेश के लागू होने से यूपी में गो माता पूरी तरह से सुरक्षित होंगी। उन्होंने कहा कि सभी राज्यों में यूपी की तर्ज पर गो संरक्षण के लिए अध्यादेश लाया जाए जिससे गो माता की पूरे देश में रक्षा हो सके। महंत नरेंद्र गिरि ने सभी अखाड़ों के संत-महात्माओं की ओर से इस फैसले के लिए पीएम मोदी और सीएम योगी का आभार भी जताया।
दरअसल, सीएम योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में मंगलवार को लखनऊ में हुई कैबिनेट बैठक में यूपी गोवध निवारण संशोधन अध्यादेश 2020 को मंजूरी दी गई है। इसके तहत गोकशी या तस्करी पर 10 साल तक की जेल हो सकेगी। साथ ही 5 लाख रुपये के जुर्माने का भी प्रावधान किया गया है। अध्यादेश के मुताबिक दोबारा दोषी पाए जाने पर सजा दोगुनी होगी। यह अध्यादेश राज्यपाल की मंजूरी के बाद लागू हो जाएगा।                                  


एमपी में देश की पहली गौ केबिनेट का निर्माण

देश की पहली गौ-कैबिनेट:मध्यप्रदेश में गौधन संरक्षण के लिए 6 विभागों की गौ-कैबिनेट बनी, 22 नवंबर को पहली बैठक


भोपाल। देश की पहली गौ-कैबिनेट मध्यप्रदेश सरकार ने बनाने का फैसला किया है। यह गायों के संरक्षण और संवर्धन के लिए काम करेगी। इस संबंध में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बुधवार को ट्वीट कर जानकारी दी। शिवराज सिंह चौहान ने लिखा कि प्रदेश में गौधन के संरक्षण और संवर्धन के लिए गौ-कैबिनेट बनाने का फैसला लिया है।
पशुपालन, वन, पंचायत एवं ग्रामीण विकास, राजस्व, गृह और किसान कल्याण विभाग गौ-कैबिनेट में शामिल होंगे। इसकी पहली बैठक गोपाष्टमी के दिन 22 नवंबर को दोपहर 12 बजे गौ अभ्यारण सालरिया आगर-मालवा में रखी गई है। राज्य शासन ने गौ कैबिनेट गठन का आदेश जारी कर दिया है। इसके अध्यक्ष मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान होंगे। जबकि मंत्री नरोत्तम मिश्रा, विजय शाह, कमल पटेल, महेंद्रसिंह सिसौदिया और प्रेमसिंह पटेल को इसका सदस्य बनाया गया है। पशुपालन विभाग के प्रमुख सचिव कैबिनेट में भारसाधक सचिव होंगे। मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान द‌वारा गौ कैबिनेट की घोषणा पर अमल करते हुए राज्य शासन ने इसके गठन का आदेश जारी कर दिया है।
पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने साधा निशाना
पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने शिवराज सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि 2018 के विधानसभा चुनाव के पहले प्रदेश में गौ-मंत्रालय बनाने की घोषणा करने वाले शिवराज सिंह अब गौ-कैबिनेट बनाने की बात कर रहे हैं। उन्होंने अपनी चुनाव से पहले की घोषणा में गौ-मंत्रालय बनाने के साथ-साथ पूरे प्रदेश में गौ-अभ्यारण और गौशालाएं बनाने की बात कही थी।
कमलनाथ ने कहा सभी जानते हैं कि अपने पिछले 15 सालों और मौजूदा 8 महीने में शिवराज सरकार ने गौमाता के संरक्षण और संवर्धन के लिए कुछ भी नहीं किया। उल्टा चारे की रकम में कांग्रेस सरकार ने जो 20 रुपये प्रति गाय का प्रावधान किया था। उसे भी कम कर दिया। कांग्रेस सरकार ने अपने घोषणा पत्र में वादा किया था। कि हमारी सरकार आने पर हम एक हजार गौशालाओं का निर्माण करवाएंगे।
कमलनाथ सरकार ने किया था। 3 हजार गौ-शालाएं बनाने का वादा
गौरक्षा के जरिए कांग्रेस सरकार सॉफ्ट हिंदुत्व का सहारा ले रही थी। पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने गौरक्षा करने वालों के लिए ऑनलाइन डोनेशन पोर्टल शुरू किया था। जिसमें दान देने वालों को आयकर में छूट देने की बात कही थी। गायों के लिए सरकार द्वारा चलाए जा रहे अभियान को मुख्यमंत्री गौ सेवा योजना नाम दिया गया था। कांग्रेस सरकार ने प्रदेश में 3 हजार गौ शालाएं बनाने का वादा किया था।                            


रिपोर्टः युवक ने मां-पत्नी व बच्चों की हत्या की

अभनपुर हत्याकांड: युवक ने ही मां-पत्नी और बच्चों का गला घोटा था, शार्ट पीएम रिपोर्ट में खुलासा


नवा रायपुर। केंद्री इलाके में 5 लोगों की मौत मामले में पुलिस को बुधवार को शॉर्ट पोस्टमार्टम रिपोर्ट मिल गई हैं। इसके मुताबिक ललिता (60), प्रमिला (30), कीर्ति (10) और नरेंद्र (8) की मौत गला दबाने और दम घुटने से हुई। शार्ट पीएम रिपोर्ट के आधार पर पुलिस ने चारों की हत्या के शक में मृतक कमलेश साहू के खिलाफ ही हत्या का केस दर्ज किया गया है। यही नहीं, उसके खिलाफ खुदकुशी का मामला भी बनाया गया है। क्योंकि पुलिस को शक है कि मां, पत्नी और बेटी-बेटे की हत्या के बाद ही उसने फांसी लगाकर जान दी थी। पुलिस मंगलवार को इस केस की जांच के सिलसिले में सादी वर्दी में केंद्री पहुंची और कई लोगों से बातचीत की गई। कमलेश के पड़ोसियों और उसके साथ काम करनेवालों से भी पूछताछ की गई है। लेकिन अब तक पुलिस को हत्या और खुदकुशी का पुख्ता कारण नहीं मिला है। किसी को कमलेश या उसकी पत्नी की बीमारी की जानकारी नहीं है। आर्थिक स्थिति को लेकर जरूर चर्चा हो रही है। लेकिन उसे हत्या की वजह नहीं माना जा रहा है। पुलिस को यह भी पता चला है। कि एक-दो बार फोन को लेकर कमलेश और उसकी पत्नी प्रमिला का विवाद हुआ था। चर्चा यह भी है। कि वह पत्नी का काम छुड़ाना चाहता था। इस मामले की जांच कर रहे एसआई गुलाब सिंह ने बताया कि शॉर्ट पीएम रिपोर्ट में खुलासा हुआ है। कि घर के चार सदस्यों की हत्या हुई है। मकान भीतर से बंद था। इसलिए कमलेश पर हत्या का शक है। केंद्री वाले या उसके ठेकेदार ने किसी तरह कर्ज की जानकारी नहीं दी हैं। उसके भाइयों ने भी पुलिस को कुछ नहीं बताया हैं। पुलिस कमलेश और प्रमिला के मोबाइल की जांच कर रही हैं। ताकि यह पता लगाया जा सके कि दोनों की अंतिम समय में फोन पर किनसे-क्या बातचीत हुई। पुलिस गुरुवार को फिर उसके मकान की तलाशी लेगी। पुलिस अभी भी कोई चिट्ठी या सुसाइड नोट मिलने की बात को खारिज कर रही है। जबकि केंद्री में हल्ला है। कि चिट्ठी मिली है। जिसमें आर्थिक तंगी और बीमारी का जिक्र है।
जुड़े हुए लोगों के होंगे बयान
पुलिस कमलेश और प्रमिला से जुड़े लोगों से गुरुवार से पूछताछ शुरू करेगी। इनमें कमलेश के करीबी रिश्तेदार साथी ठेकेदार और कर्मचारी शामिल हैं। इसी तरह प्रमिला के मायके वाले, पड़ोसी और जहां वह काम पर जाती थी। वहां के लोगों के भी बयान लिए जाएंगे। कमलेश और उसकी पत्नी कहां इलाज चल रहा था। दवाइयां कहां से आती थी। वह राशन कहां लेता था। इसका भी पता लगाया जा रहा है।
मकान में नहीं मिला जहर
पुलिस को अब तक की जांच में कमलेश के मकान में किसी का कीटनाशक या जहरीला पदार्थ नहीं मिला है। पुलिस ने कमलेश के घर जब्त भोजन और सब्जी जांच के लिए लैब भेजा है। अब विसरा भी भेजा जाएगा। दोनों की रिपोर्ट आने से स्पष्ट हो जाएगा कि कमलेश ने अपने परिजनों की हत्या के पहले उन्हें भोजन में कुछ दिया तो नहीं था। जिसके कारण सभी गहरी नींद में चले गए। इस वजह से वे कमलेश का विरोध भी नहीं कर पाए।                                


उलझनः व्हाइट हाउस में रहना चाहते हैं ट्रंप

उलझन में यूएस प्रेसिडेंट व्हाइट हाउस में ही रहना चाहते हैं डोनाल्ड ट्रम्प, यहां वे बंकर की तरह सुरक्षित महसूस करते हैं


वाशिंगटन डीसी। चुनाव हारने के बाद डोनाल्ड ट्रम्प दो बार मीडिया के सामने आए। अपनी बात कही और लौट गए। मीडिया के किसी सवाल का जवाब नहीं दिया। व्हाइट हाउस से करीब 40 किलोमीटर दूर वर्जीनिया में गोल्फ खेल रहे हैं। कुछ अफसरों को बर्खास्त कर रहे हैं। और कुछ अहम फैसले ले रहे हैं। इनमें से एक अफगानिस्तान और इराक से अमेरिकी सैनिकों की वापसी का है। सूत्रों के हवाले से बताया- ट्रम्प और पत्नी मेलानिया को छुट्टियों के लिए साउथ फ्लोरिडा में अपने रिसॉर्ट में जाना था। लेकिन, अब उन्होंने वॉशिंगटन में ही रहने का फैसला किया है। व्हाइट हाउस के एक अफसर ने सीएनएन से कहा- यह बंकर में रहने की मानसिकता है।
फेंसिंग भी हट गईं
इलेक्शन डे पर व्हाइट हाउस के बाहर मेटल फेंसिंग की गई थी। अब यह हट चुकी है। वहां बाइडेन की इनॉगरेशन परेड के लिए स्टैंड्स बनने लगे हैं। चार साल पहले ये ट्रम्प के लिए भी बने थे। लेकिन, ट्रम्प हार मानने के लिए तैयार नहीं हैं। वे लोकतंत्र की जंग कानूनी तरीके से जीतना चाहते हैं। 2016 में उन्होंने लोकतांत्रिक तरीके से ही चुनाव जीता था। अब वे शायद ये भूल रहे हैं। अपने चार साल के टेन्योर में शायद ही कोई ऐसा मौका आया होगा जब ट्रम्प ने टीवी कैमरों से इस तरह दूरी बनाई होगी। लेकिन 3 नवंबर के बाद से वे यही कर रहे हैं।
पेंस से दो बार लंच पर मिले
तीन नवंबर के बाद कई बार उनके पब्लिक प्रोग्राम लिस्ट किए गए लेकिन हर बार इन्हें रद्द कर दिया गया। पिछले हफ्ते गुरुवार को उन्होंने विदेश और वित्त विभाग के अफसरों से मीटिंग की। वाइस प्रेसिडेंट माइक पेंस से दो बार मिले। लेकिन, करीब एक महीने से वे इंटेलिजेंस ब्रीफिंग नहीं ले रहे हैं। हालांकि, ये भी सही है। कि यह ब्रीफिंग प्रेसिडेंट इलेक्ट बाइडेन तक भी नहीं पहुंच रही।
विदेशी नेताओं से बातचीत बंद
कई विदेशी नेता बाइडेन को जीत की बधाई दे चुके हैं। वहीं ट्रम्प ने इन राष्ट्राध्यक्षों से संपर्क बंद कर दिया है। फ्रांस के राष्ट्रपति एमैनुएल मैक्रों से उन्होंने 30 अक्टूबर को बातचीत की थी। इसके बाद किसी विदेशी नेता से संपर्क नहीं किया। अपने दो करीबी दोस्तों बेंजामिन नेतन्याहू और नरेंद्र मोदी से भी नहीं। फॉक्स न्यूज में रिपोर्टर और ट्रम्प के मित्र गेराल्डो ने पिछले दिनों ट्वीट में कहा- वो वक्त करीब आ रहा है। जब आप सम्मान से विदा लेंगे। हालांकि, ट्रम्प तो जीत का दावा कर रहे हैं।
फैसले लेने में पीछे नहीं
ट्रम्प भले ही सामने नहीं आ रहे हों, लेकिन ऐसा बिल्कुल नहीं है। कि वे फैसले नहीं ले रहे हों। डिफेंस मिनिस्टर मार्क एस्पर को उन्होंने हटाया, होमलैंड सिक्योरिटी चीफ को भी चलता किया। अफगानिस्तान और इराक से सैनिक कम करने का आदेश दिया। खबर आई कि वे ईरान को उसकी वादाखिलाफियों की सजा भी देना चाहते थे। इमीग्रेशन पर जल्द ही नया और सख्त फैसला ले सकते हैं। कुछ लोग मान रहे हैं। कि अगले कुछ दिन शांति से नहीं गुजरेंगे।
बाइडेन भी बिजी
ट्रम्प खामोशी से और पर्दे के पीछे से फैसले कर रहे हैं। वहीं, प्रेसिडेंट इलेक्ट जो बाइडेन रोज मीडिया से बात कर रहे हैं। और एडमिनिस्ट्रेशन पर फोकस कर रहे हैं। सूत्रों के मुताबिक, सुबह ट्रम्प टीवी देखते हैं। इसके बाद ओवल ऑफिस पहुंचते हैं। और देर शाम तक वहीं रहते हैं। राष्ट्रपति ने अब तक कोरोना से मारे गए अमेरिकी लोगों पर कोई टिप्पणी नहीं की है।                              


गोपनीयता भंग, सैन्य कर्मी को जमानत नहीं दी

सैन्य जवान को जमानत देने से अदालत का इनकार, कहा- पाकिस्तानी एजेंट को सेना की गोपनीय सूचना देना गंभीर


भोपाल। मप्र हाईकोर्ट ने कहा है कि सोशल मीडिया के माध्यमों पर पाकिस्तानी एजेंट को सेना की गोपनीय सूचना देने का मामला अतिसंवेदनशील और गंभीर है। ऐसी स्थिति में आरोपी अविनाश कुमार को जमानत का लाभ नहीं दिया जा सकता। जस्टिस राजीव कुमार दुबे की एकलपीठ ने कहा कि पुलिस ने आरोपी के मोबाइल से जो डाटा एकत्र किया है। उससे स्पष्ट है। कि फर्जी नाम से रह रही पाकिस्तानी एजेंट प्रिशा अग्रवाल को गोपनीय सूचना दी गई है। और उसके बदले आवेदक ने पैसे लिए।
ऐसी स्थिति में प्रारंभिक तौर पर आरोप बहुत ही गंभीर प्रतीत होते है। इसलिए आवेदक को जमानत नहीं दी जा सकती। अभियोजन के अनुसार बिहार रेजिमेंट महू (इंदौर) में नायक के पद पर पदस्थ अविनाश पर आरोप है। कि उसने वॉटस्एप, इंस्टाग्राम वीडियो चैट और ऑडियो चैट के माध्यम से सेना की गोपनीय सूचना पाकिस्तानी एजेंट को दी है। अविनाश पर आरोप है। कि उसने ये सूचना लीक करने के लिए एजेंट से पैसे भी लिए हैं।
आवेदक- पैसे पाकिस्तान से नहीं दिल्ली से ट्रांसफर हुए
एसटीएफ ने 16 मई 2019 को आरोपी को गिरफ्तार किया था। भोपाल की कोर्ट से जमानत खारिज होने के बाद अविनाश ने हाईकोर्ट में जमानत अर्जी दाखिल की। आवेदक की ओर से कहा गया कि अभियोजन के पास ऐसे कोई सबूत या गवाह नहीं हैं। जिससे यह साबित हो सके कि उसने गोपनीय सूचना लीक की है। यह भी कहा गया कि जो पैसे उसके अकाउंट में आया है। वो दिल्ली से ट्रांसफर हुआ है न कि पाकिस्तान से।
इस मामले में चालान पेश हो चुका है। और ट्रायल पूरी होने में बहुत समय लगेगा इसलिए उसे जमानत दी जाए। इस मामले में भोपाल एसटीएफ ने आरोपी के खिलाफ भादंवि की धारा 123, 120बी, 420, 467 468 एवं 471 और ऑफिशियल सीक्रेट्स एक्ट 1923 की धारा 3, 4, 5 एवं 9 के तहत प्रकरण पंजीबद्ध किया।                                       


'धनुष' के सटीक निशाने की कायल हुई सेना

फौज की ताकत, एमपी की तोप:जबलपुर में बनी स्वदेशी तोप धनुष के सटीक निशाने की कायल हुई फौज; टेस्टिंग में गूंजी बालासोर फायरिंग रेंज


जबलपुर। गन कैरिज फैक्ट्री (जीसीएफ) में स्वदेशी तकनीक से तैयार की गई धनुष् तोप सेना की ताकत बनती जा रही है। जीसीएफ में तैयार छह धनुष तोप का ओडिशा राज्य के बालासोर में परीक्षण चल रहा है। ये परीक्षण सैन्य अफसरों के सामने किया जा रहा है। परीक्षण में धनुष तोप (155 एमएम/45 कैलिबर गन) की एक से बढ़कर एक खूबियों को देख कर सैन्य अफसर भी उत्साहित नजर आए। जीसीएफ बोर्ड को कुल 114 धनुष तोप बनाने का आदेश मिला है। इस वर्ष कुल 18 धनुष तोप बनाने थे। अप्रैल और जुलाई में छह-छह धनुष तोप जीसीएफ सेना को सौंप चुका है। अब छह धनुष तोप दिसंबर तक सौंपने का लक्ष्य है।
कोरोना संक्रमण के चलते हुई कुछ देरी
वर्तमान में यह स्वदेशी तोप ओडिशा राज्य के बालासोर परीक्षण रेंज में गूंज रही है। परीक्षण के बाद यह तोप वापस आने पर सैन्य अफसरों के सामने खोलकर फिर से कसा जाएगा। कोरोना संक्रमण के बावजूद जीसीएफ और सैन्य प्रशासन का संवाद जारी रहा। जैसे ही महामारी का असर कुछ कम हुआ धनुष तोप का सैन्य परीक्षण आरंभ हो गया।
परीक्षण में बेहतर प्रदर्शन
जीसीएफ में बनीं धनुष तोप ने बालासोर फायरिंग रेंज में टेस्टिंग के दौरान सैन्य अफसरों के सामने बेहतर प्रदर्शन किया। इससे पहले इस धनुष तोप का पोखरण, बालासोर सहित अन्य फायरिंग रेंज में अलग-अलग तापमान और परिस्थितियों में परीक्षण किया जा चुका है। स्वदेशी तोप सभी परीक्षण में सफल रही है।
बोफोर्स का स्वदेशी स्वरूप है। धनुष
जीसीएफ ने बोफोर्स तोप को स्वदेशी तकनीक से उन्नत बनाया है। जिसे नाम मिला है। धनुष तोप। करगिल की लड़ाई में इस तोप की खूबियां सेना को काफी पसंद आई थी। दुर्गम और कठिन हालात में इस तोप ने भारतीय सेना को निर्णायक बढ़त दिलाने में विशेष योगदान दिया था। भारत इलेक्ट्राॅनिक्स लिमिटेड (बीईएल) आयुध निर्माणी कानपुर और अन्य निर्माणियों के सहयोग से जीसीएफ धनुष तोप बना रही है। 114 धनुष तोप की जरूरत सेना ने बताई है। 2020 में 18 धनुष तोप सेना को सौंपना है। अब तक 12 सौंपी जा चुकी है। अब आखिरी छह धनुष तोप को दिसंबर तक सौंपा जाएगा।
धनुष तोप की ये खूबियां बनाती हैं। घातक
स्वदेशी धनुष तोप फुल्ली ऑटोमेटिक सिस्टम पर काम करती है। एक धनुष तोप की लागत 17 करोड़ के लगभग है। जो दूसरे के मुकाबले कम है। वजन में भी यह हल्की है। इंजनयुक्त होने से पहाड़ी सहित ऊबड़-खाबड़ रास्तों पर लाना-ले जाना आसान है। इसकी 38 किमी तक सटीक लक्ष्य साधने की मारक क्षमता है। धनुष तोप के संचालन पर मौसम का कोई भी असर नहीं होता। यह सभी तरह के मौसम में उपयोगी है।                                 


टमाटर स्वाद नहीं, स्वास्थ्य के लिए लाभकारी

जानिए आपके लिए कितना गुणकारी हैं टमाटर


टमाटर न केवल खाने का स्वाद बढ़ाता है। बल्कि इसके अंदर पाए जाने वाले विटामिन-ए और विटामिन-सी जैसे कई गुणकारी तत्व हमारे स्वास्थ्य के लिए भी बहुत फायदेमंद होते हैं। सब्जी की टोकरी में सामान्य-सा दिखाई देने वाला टमाटर, कई असामान्य गुणों से भरपूर होता है। तो आइये जानते है। टमाटर से होने वाले फायदों के बारे मे
-टमाटर एंटीऑक्सीडेंट की तरह काम करता है। टमाटर में विटामिन सी, लाइकोपीन, विटामिन पोटैशियम पर्याप्त मात्रा में पाया जाता है। साथ ही इसमें कोलेस्ट्रॉल को कम करने वाले तत्व भी पर्याप्त मात्रा में होते हैं। जिन लोगों को वजन कम करना है। उनके लिए भी ये काफी फायदेमंद है।
-पोषक तत्वों से भरपूर टमाटर गर्भवती महिलाओं के लिए बहुत लाभदायक होते हैं। एक स्वस्थ शिशु के लिए गर्भवती महिला को प्रचुर मात्रा में पोषक तत्वों और विटामिन्स की आवश्यकता होती है। जिसके लिए टमाटर बेहतर विकल्प है। विटामिन सी मां और बच्चें दोनों को स्वस्थ रखने का कार्य करता है। जो टमाटर में प्रचुर मात्रा में पाया जाता है।
-बाजार में प्रचलित ब्यूटी प्रोडक्ट्स के बारे में आप अमूमन सुनते ही होंगे कि इनमे टमाटर का लीकोपीन मौजूद है। टमाटरों का यह गुण आपको सूर्य की हानिकारण यूवी किरणों के प्रभाव से बचाता है। जिससे आपकी त्वचा आसानी से झुलसती नहीं है। इसके अलावा टमाटर में एंटी ऑक्सीडेंट भी पाए जाते हैं। जो आपको समय से पहले बूढ़ा नहीं दिखने देते।
-टमाटर का सेवन हमारे पाचन तंत्र को सुधारने में मदद करता है। यह दस्त और कब्ज दोनों से ही हमारे पाचन तनरत की रक्षा करते हैं।
-टमाटर में विटामिन के और कैल्शियम की उपस्थिति के कारण यह आपकी हड्डियों के लिए एक बहुत अच्छा आहार है। दोनों ही तत्व हड्डियों को मजबूत बनाने और उनकी मरम्मत करने के लिए लाभदायक हैं। इसमें निहित लाइकोपीन नामक एंटी-ऑक्सिडेंट भी हड्डियों को बेहतर बनाने के लिए जाना जाता है। जो ऑस्टियोपोरोसिस से लडऩे का एक प्रभावी तरीका है। ऑस्टियोपोरोसिस एक बीमारी है। जो हड्डी के फ्रैक्चर विकलांगता और विकृति का कारण बन सकती है।                                   


यूट्यूब पर धनुष के गाने ने मचाया धमाल

धनुष के इस गाने ने मचाया धमाल, यूट्यूब पर 1 अरब के पार हुए व्यूज


चेन्नई। सुपरस्टार धनुष और साई पल्लवी के गाने राउडी बेबी ने यूट्यूब पर धमाल मचा दिया है। राउडी बेबी के यूट्यूब पर 1 अरब व्यूज पूरे कर लिए हैं। यह गाना फिल्म मारी 2 का है। धनुष द्वारा गाए गए इस गाने को म्यूजिक शंकर राजा ने दिया है। और लिरिक्स पोएटू धनुष ने लिखे हैं। वैसे धनुष के साथ धी ने भी गाना गाया है।
दिलचस्प बात यह है। कि आज ही के दिन धनुष का पॉप्युलर गाना कोलावरी डी रिलीज हुआ था। जिसने कई रिकॉर्ड अपने नाम किए थे। धनुष ने इस खुशी को फैन्स के साथ शेयर करते हुए लिखा क्या संयोग है। राउडी बेबी एक अरब व्यूज को पार कर चुका है। और वह भी उसी दिन जिस दिन कोलावरी डी की 9वीं एनिवर्सरी है।
धनुष ने आगे लिखा हमारे लिए यह सम्मान की बात है। कि यह पहला साउथ इंडियन सॉन्ग है। जिसको यूट्यूब पर एक अरब बार देखा जा चुका है। हमारी पूरी टीम आपको दिल से धन्यवाद कहती है। बता दें कि इससे पहले धनुष के गाने कोलावरी डी ने भी धमाल मचाया था। जो साल 2011 में आई साइकोलॉजिकल थ्रिलर 3 का था।
धनुष के अपकमिंग प्रोजेक्ट की बात करें तो वह जल्द ही आनंद एल रॉय की फिल्म अतरंगी रे में नजर आने वाले हैं। फिल्म में धनुष के साथ अक्षय कुमार और सारा अली खान लीड रोल में हैं।रिपोर्ट्स के मुताबिक सारा फिल्म में डबल रोल में नजर आने वाली हैं। वह फिल्म में अक्षय और धनुष दोनों के साथ रोमांस करेंगी।                                      


स्वास्थ्य वर्धक, ठंड में जमकर खाए गाजर

ठंड के दिनों में जमकर खाएं गाजर, होते हैं ये हैरान कर देने वाले फायदे


सब्जिय़ों की तुलना में गाजर स्वास्थ्य के लिए सर्वोत्तम आहार में से एक है। गाजर खाने के फायदे जानकर आप गाजर खाना आज से ही शुरू कर देंगे। अच्छे स्वास्थ्य के लिए हर कोई पौष्टिक भोजन का सेवन करते हैं। जो आपको तंदरुस्त बनाता हैं। इन दिनों मार्किट में गाजर हैं। गाजर सर्दी में काफी अहम माना जाता है। विशेषज्ञों के अनुसार, गाजर स्वास्थ्य के लिए सर्वोत्तम आहार है। इसके स्वास्थ्य लाभों को देखते हुए इसे ‘सुपरफूडÓ भी कहा जाता है। बेहतर पाचन तंत्र के लिए इसका सेवन जूस या सलाद के रूप में किया जा सकता है। गाजर कैरोटेनॉइड और डाइटरी फाइबर जैसे बायोएक्टिव कंपाउड से समृद्ध होती है।जो शरीर के लिए काफी फायदेमंद माने जाते हैं।
गाजर में विटामिन्स प्रचुर मात्रा में होते हैं। इसमें प्रमुख रूप से विटामिन ए, विटामिन सी, विटाएमिन के और विटामिन बी-8 मौजूद होते हैं। इसके अलावा गाजर में फोलेट, पोटैशियम, पैंटोथेनिक एसिड, आयरन, तांबा और मैंगनीज जैसे और भी कई मिनरल्स पाए जाते हैं। गाजर में काफी मात्रा में फाइबर और बीटा-कैरोटिन पाया जाता है। जो स्वास्थ्य को स्वस्थ रखने के लिए काफी उपयोगी माना जाता है। तो चलिए आपको बताते हैं। कि गाजर किन-किन तरीकों से आपको स्वस्थ रखता है।
दिल की बीमारियों में सहायक । अगर आप हफ्ते में छह गाजर खाते हैं। तो आपको दिल का रोग नहीं होगा। ह्दय की कमजोरी अथवा घड़कनें बढ़ जाने पर गाजर को भूनकर खाने पर लाभ होता है। जो लोग रोजाना गाजर का सेवन करते हैं। उन लोगों में स्ट्रोक ग्रस्त होने की संभालना लगभग 68 प्रतिशत तक कम हो जाती है। रोजाना एक गाजर का सेवन करने से 68 प्रतिशत तक दिल के दौरे का खतरा कम होता है। साथ ही ये कई तरह के दिल की बीमारियों से आपको दूर रखता है।
आंखों के लिए फायदेमंद। यह आंखों के लिए इसलिए फायदेमंद होता है। क्योंकि इँसमें बीटा केरोटीन पाया जाता है जो कि लीवर में जा कर विटामिन ए में बदल जाता है। विटामिन ए रेटीना के अंदर ट्रासंफॉम होता है। और फिर यह बैगनी से दिखने वाले पिग्मेंट में इतनी शक्ती होती है कि रतौन्धी जैसा रोक दूर-दूर तक नहीं हो पाता। इसके अलावा गाजर में बीटा कैरोटीन मौजूद होता है। जो मोतियाबिंद से आंखों की रक्षा करता है। साथ ही गाजर में ल्यूटिन और जेक्सैथिन भी मौजूद होता है।जो आंखों के स्वास्थ्य के लिए बेहद जरुरी है।
लिवर रखे सुरक्षित। गाजर दिल और ब्लड प्रेशर (रक्तचाप) के मरीजों के लिए अत्यधित फायदेमंद होता है। इसमें बीटा-कैरोटीन, अल्फा-कैरोटीन और लुटेइन भरपूर मात्रा में होता है जो बहुत ही ऐंटीऑक्सिडेंट है। गाजर में मौजूद पोटैशियम, रक्त वाहिकाओं और धमनियों को फैलाकर रक्त-प्रवाह को बढ़ाता है। जिससे दिल के प्रणाली पर कम तनाव पड़ता है।
मुंह भी रखे स्वस्थ। मुहं में बदबू ना आए और मसूड़ों में सडन ना पैदा हो इसलिये उन्हें गाजर खानी चाहिये। गाजर में त्वचा और स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होने के साथ-साथ मौखिक स्वास्थ्य के लिए भी बहुत फायदेमंद होता है। गाजर को चबाकर खाने से दांतों में फंसा मैल और उसमें फंसे भोजन के कण निकल जाते हैं। इसके अलावा गाजर लार (सलाइवा) के उत्पादन को बढ़ाता है। साथ ही स्वाभाविक रूप से यह क्षारीय होने के कारण मुंह में एसिड के प्रभाव को संतुलित करता है।
रक्त चाप को रखें सामान्य। गाजर बीपी के मरीजों के लिए भी बहुत फायदेमंद होता है। गाजर में काफी मात्रा में विटामिन ए मौजूद होता है। जो शरीर से विषाक्त पदार्थों को निकालने में अहम भूमिका निभाता है। इसके अलावा गाजर लिवर में पित्त और जमे हुए वसा को कम करने में अत्यधिक मदद करता है।
त्वचा को निखारता है। गाजर सेहत के साथ आपकी त्वचा को भी बेहतर बनाता है। गाजर विटामिन ए और ऐंटीऑक्सीडेंट का अच्छा सोर्स होता है। जिस वजह से ये त्वचा को निखारने में काफी उपयोगी होता है। साथ ही ये सूर्य की हानिकारक अल्ट्रावाइलेट किरणों से त्वचा की रक्षा करता है। जिससे त्वचा संबंधी समस्या नहीं होती हैं। इसके अलावा ये क्षतिग्रस्त त्वचा के ऊतकों के सुधार में भी सहायक है।                                       


सलमान के ड्राइवर सहित दो अन्य स्टाफ संक्रमित

सलमान खान के पर्सनल ड्राइवर और 2 स्टाफ को हुआ कोरोना, ऐक्टर ने खुद को किया आइसोलेट


मुंबई। कोरोना वायरस ने इस साल पूरी दुनिया को बुरी तरह प्रभावित किया है। इस खतरनाक वायरस से अब तक कई लोगों की जान जा चुकी है। तो कई ने इसे हराया भी है। अब रिपोर्ट्स हैं। कि सलमान खान के पर्सनल ड्राइवर अशोक का कोरोना टेस्ट पॉजिटिव आया है।
उनके ड्राइवर के अलावा उनके घर के 2 स्टाफ मेंबर्स के भी कोविड पॉजिटिव होने की खबर है। खबरें हैं कि इसके बाद सलमान ने खुद को 14 दिन के लिए आइसोलेट कर लिया है।
परिवार के भी आइसोलेट होने की खबर
जानकारी के अनुसार सिर्फ सलमान ही नहीं बल्कि उनके घर के सदस्यों ने भी खुद को 14 दिन के लिए खुद को आइसोलेट कर लिया है। बताया जा रहा है। कि संक्रमित स्टाफ मेंबर्स को अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। हालांकि सलमान या उनके परिवार के किसी सदस्य ने इस बात की पुष्टि नहीं की है।
स्टाफ के इलाज का रखा पूरा ध्यान
सलमान बिग बॉस के वीकेंड का वार में नजर आते हैं तो सवाल उठता है। कि अब वह आने वाले वीक में कैसे आ पाएंगे। वहीं पिंकविला की रिपोर्ट के मुताबिक, सलमान ने इस बात का ध्यान रखा है। कि उनके स्टाफ को बेहतरीन इलाज मिले। वहीं उनका परिवार सलीम खान और सलमा खान की वेडिंग ऐनिवर्सी की तैयारी भी कर रहा था। लेकिन इस सिचुएशन को देखकर इसके कैंसल होने की खबर आ रही है।                                   


बेबाक रवैया के कारण मिला दूसरा नाम

रानी लक्ष्मीबाई जयंती विशेष : विवाह से पहले इस नाम से मशहूर थी लक्ष्मीबाई बेबाक रवैये से मिला नया नाम


आज महारानी लक्ष्मी बाई की जयंती है। उनके राष्ट्र प्रेम साहस और बलिदान की अमर कहानी बुन्देलखण्ड के इतिहास को गौरान्वित कर महिलाओं के लिए आज भी प्रेरणा का स्रोत बनी हुई है। वीरागंनाओं के पारस्परिक सहयोग त्याग और आत्मविश्वास दलित सवर्ण का अमिट प्रेम भी राष्ट्रीय एकता सामाजिक सद्भाव का प्रतीक बना हुआ है।
देश की आजादी के लिए वर्ष 1857 की पहली लड़ाई में जहां राजाओं नवाबों, देशभक्त साधन सम्पन्न साहसिक नागरिकों ने संघर्ष किया वहीं रानी लक्ष्मीबाई का राष्ट्र प्रेम संघर्ष आज भी यादगार बना हुआ है।
19 नवम्बर 1828 को काशी के सुप्रसिद्ध महाविद्वान ब्राह्मण परिवार में जन्मी रानी लक्ष्मीबाई का पालन पोषण, शिक्षा-दीक्षा, बिठूर, कानपुर में हुई बिठूर में वह मनु और छबीली के नाम से विख्यात थी। उन्होंने युद्ध कौशल की शिक्षा बिठूर में ही ली झांसी के गंगाधर राव से विवाहोपरान्त वह लक्ष्मीबाई के नाम से विख्यात हुई।
उन्होंने एक पुत्र को जन्म दिया लेकिन कुछ माह उपरांत उसकी मृत्यु हो गई। पुत्र के गम में राजा भी चल बसे भारत देश की इस विरांगना ने 17 जून 1858 को ग्वालियर में सदा के लिए आंखें बंद कर ली थी। अल्प आयु में ही उन्होंने सेनापति के साथ-साथ कुशल प्रशासक की अमिट छाप छोड़ी है।
जीवनसंगी और संतान
राजा गंगाधर राव ने अपने जीवनकाल में ही अपने परिवार के बालक दामोदर राव को दत्तक पुत्र मानकर अंग्रेजी सरकार को सूचना दे दी थी। परंतु ईस्ट इंडिया कंपनी की सरकार ने दत्तक पुत्र को अस्वीकार कर दिया रानी ने अंग्रेजों के विरुद्ध युद्ध का बिगुल बजा दिया और घोषणा कर दी कि मैं अपनी झांसी अंग्रेजों को नही दूंगी। यहीं से पहले प्रथम स्वतंत्रता संग्राम का आरंभ हुआ।
बेबाक रवैया
झांसी की रानी लक्ष्मीबाई बेबाक अपनी बात रखती थी। एक बार वह एक कथावाचक के यहां पहुंचीं। उस समय वहां कथा चल रही थी। वह बाल विधवा होने के बावजूद कांच की चूडिय़ों की बजाय सोने की चूडिय़ां पहने हुई थीं। उनके हाथों में चूडिय़ों को देखकर पंडित जी ने व्यंगात्मक लहजे से कहा घोर कलियुग है। धर्म-कर्म की सारी मर्यादाएं टूट गई हैं। विवाहित स्त्रियां पहले कांच की चूडिय़ां पहनती थीं वे अब विधवा होने के बाद सोने की चूडिय़ां पहन रही हैं।
जब यह बात कही गई, तब काफी लोग वहां मौजूद थे। यह सुनकर लक्ष्मीबाई ने कहा महाराज आप क्या जानें कि हमने सोने की चूडिय़ां क्यों पहन रखी हैं। पति के जीते जी कांच की चूडिय़ां इसलिए पहनती थी। ताकि हमारा सुहाग कांच की तरह नाशवान रहे और जब उन्होंने शरीर त्याग दिया तब सोने की चूडिय़ां इसलिए पहनी हैं। ताकि हमारा सुहाग सोने की तरह चमकता रहे। वह पंडित लक्ष्मीबाई के इस उत्तर को सुनकर ठगा-सा रह गया।                                       


पथरी निकलवाने गया शख्स, निकाल ली किडनी

स्टोन निकलवाने गया शख्स डॉक्टर्स ने निकाल ली किडनी परिजनों का हंगामा


नई दिल्ली/पटना। आज के समय में अस्पताल से कई चौकाने वाले मामले सामने आते हैं। ऐसे में हाल ही में भी एक ऐसा मामला सामने आया है। जिसे जानने के बाद आपके होश उड़ जाएंगे। मिडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक यह मामला कंकड़बाग के अशोकनगर का है। यहाँ एक निजी अस्पताल पर किडनी निकालने का आरोप लगाया गया है। मिली जानकारी के मुताबिक इस मामले के बारे में पता चलते ही परिजनों ने जमकर बवाल किया है। इस मामले में बेगूसराय के रहने वाले मरीज के परिजनों ने यह आरोप लगाया है। कि पीड़ित अस्पताल में स्टोन का ऑपरेशन कराने के लिए भर्ती हुआ था। लेकिन डॉक्टरों ने उसकी किडनी ही निकाल ली।
वहीं उसके बाद परिजनों ने अस्पताल में हंगामा किया। जैसे ही इस घटना के बारे में सूचना पुलिस को मिली तुरंत पुलिस पहुंची और पुलिस ने मामले की जांच-पड़ताल की। इस मामले में थानेदार का कहना है। कि ‘अभी कोई लिखित आवेदन नहीं मिला है। अगर मिलता है। तो केस दर्ज करते हुए कानूनी कार्रवाई की जाएगी। वहीं अगर पुलिस अधिकारियों की मानें तो ‘किडनी निकाली गई है। या नहीं यह मेडिकल जांच में ही पता चलेगा। मिली जानकारी के मुताबिक बेगूसराय के रहने वाले पीड़ित मरीज के परिजनों का कहना है। युवक को कुछ दिनों से पेट में दर्द हो रहा था। अल्ट्रासाउंड कराया गया तो पेट में स्टोन निकला।
वहीं आगे परिजनों ने बताया कि दो दिन पूर्व कंकड़बाग के अशोकनगर रोड स्थित अस्पताल में पीड़ित को एडमिट कराया गया था। ऑपरेशन के बाद परिजन हंगामा करने लगे। अब परिजनों ने यह आरोप लगाया है। कि डॉक्टरों ने ऑपरेशन कर बाईं किडनी निकाल ली है। मरीज उसी अस्पताल में भर्ती है। जहां ऑपरेशन कराया गया था। पुलिस ने परिजनों से पूछताछ की और बाद में उनके आरोपों के आधार पर अस्पताल प्रबंधन के अलावा वहां के कर्मचारियों से बातचीत की।                                 


इंदिरा को दी श्रद्धांजलि, बताया शक्ति स्वरूप

पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल ने इंदिरा गांधी की जयंती पर दी श्रद्धांजलि दादी को बताया ‘शक्ति का स्वरूप


अकांशु उपाध्याय


नई दिल्ली। आज देश की प्रथम महिला प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की जयंती है। इस मौके पर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने शक्ति स्थल’ पर पहुंच उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की। अपनी दादी को याद करते हुए राहुल ने कहा कि वो शक्ति का स्वरूप थीं। उनकी सिखाई बातें मुझे आज भी प्रेरित करती हैं।
कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने दादी इंदिरा को शक्ति स्वरूप बताते एक ट्वीट भी किया। अपने ट्वीट में उन्होंने लिखा एक कार्यकुशल प्रधानमंत्री और शक्ति स्वरूप श्रीमती इंदिरा गांधी जी की जयंती पर श्रद्धांजलि। पूरा देश उनके प्रभावशाली नेतृत्व की आज भी मिसाल देता है। लेकिन मैं उन्हें हमेशा अपनी प्यारी दादी के रूप में याद करता हूं। उनकी सिखाई हुई बातें मुझे निरंतर प्रेरित करती हैं।
कांग्रेस पार्टी ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से ट्वीट कर लिखा इंदिरा गांधी एक नाम- शक्ति समर्पण साहस और संकल्प का। उनके लौह इरादों ने हिन्द का गौरव बढ़ाया था। पाकर उनके साहस को नया हिंद मुस्काया था।। दुनिया का भूगोल और हिन्दुस्तान की किस्मत बदलने वाली पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी जी का पुण्य स्मरण।
राज्यसभा सांसद विवेक तन्खा ने कहा दृण संकल्प दूर दृष्टि और पक्के इरादे की धनी अद्धभुत प्रशासनिक क्षमता वाली अभूतपूर्व प्रधानमंत्री स्व इंदिरा गांधी जी की जयंती पर सादर नमन।
आनंद शर्मा ने कहा कि उनकी जयंती पर एक कृतज्ञ राष्ट्र अपनी सबसे बहादुर बेटी और पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी को याद करता है। उन्हें न केवल उनके साहस और धैर्य के लिए बल्कि करुणा और दया के लिए भी याद किया जाएगा। उनकी उपलब्धियां हमारी आने वाली पीढ़ियों को प्रेरित करती रहेंगी।
जबकि महिला कांग्रेस अध्यक्ष सुष्मिता देव ने इंदिरा जी को याद करते हुए कहा कि मेरी आदर्श और पहली महिला प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी जी को श्रद्धांजलि। राष्ट्र की सेवा के लिए करुणा से भरी वो सबसे मजबूत नेता थीं।
उल्लेखनीय है। कि स्वतंत्र भारत के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू की बेटी इंदिरा का जन्म 19 नवम्बर 1917 को इलाहाबाद में हुआ था। उन्होंने स्वतंत्रता आंदोलन के दौरान अपनी वानर सेना बनाई और सेनानियों के साथ काम किया था। साल 1959 को उन्हें कांग्रेस का राष्ट्रीय अध्यक्ष चुना गया था। पंडित नेहरू के निधन के बाद जब लालबहादुर शास्त्री प्रधानमंत्री बने तो इंदिरा ने उनके अनुरोध पर चुनाव लड़ा और सूचना एवं प्रसारण मंत्री बनीं। साल 1966 से 1977 और 1980 से 1984 के बीच उन्होंने प्रधानमंत्री के तौर पर भारत की सत्ता संभाली। ऑपरेशन ब्लू स्टार के बाद वे सिख अलगाववादियों के निशाने पर आ गई थीं। 31 अक्टूबर,1984 को उनके दो सिख अंगरक्षकों ने ही उनकी हत्या कर दी थी।                                          


गन्ने के खेत में बिखरे मिलेंं 500-2000 के नोट

कुशीनगर। उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में उस वक्त अफरा-तफरी मच गई जब एक गन्ने के खेत में दो हजार और 500 के नोट बिखरे मिले। नोट मिलने की बात जैसे ही गांव में फैली लोगों हैरान हो गए। नोट बटोरने ग्रामीण खेत की तरफ दौड़ पड़े। कुशीनगर (Kushinagar) के हाटा कोतवाली क्षेत्र के मोहमदा सिकटिया गांव में गन्ने के खेत में 2 हजार और 5 सौ के नोट मिलने से अटकलों का बाज़ार गर्म है। गन्ना काटने गए मजदूरों ने नोट बिखरा देखा जिसके बाद नोट मिलने की सूचना बहुत जल्द गांव में पहुंच गई। इसके बाद बड़ी संख्या में ग्रामीण खेत में पहुंचकर नोट लूटने लगे। किसी ने नोट मिलने की जानकारी पुलिस को दी जिसके बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने खेत में पड़े नोट को कब्जे में लेने के बाद वहां मौजूद ग्रामीणों से भी नोट ले लिया।

पुलिस ने लगभग 1.15 लाख रुपया कब्जे में लेकर जांच शुरू कर दिया है।
मच गई लूट
दरअसल, हाटा कोतवाली क्षेत्र के मोहमदा सिकटिया गांव निवासी सीताराम के खेत में गन्ना काटने गए मजदूरों ने फटे कपड़े में कुछ बंधा देखा तो उत्सुकतावश उसे खोलने लगे। मजदूरों ने खोला तो उसमें 5 सौ और 2 हजार के नोट मिले। इसके बाद वहां लूट मच गई। जानकारी होने पर गांव के बहुत लोग पहुंच कर नोट लूटने लगे। रात हो जाने के कारण 112 नंबर पुलिस ने गांव में पहुंचकर नोट सही सलामत रखने का निर्देश दिया। सुबह पहुंचे हाटा कोतवाल जय प्रकाश पाठक ने ग्रामीणों से नोट कब्जे में ले लिया। कोतवाली प्रभारी जय प्रकाश पाठक ने बताया कि नोट कब्जे में लेने के बाद उसकी जांच कराई जा रही है कि नोट असली हैं या नहीं।

पुलिस कर रही मामले की जांच
ग्रामीणों के अनुसार कुछ दिन पहले गांव के पास स्थित चौराहे पर किराने की दुकान से लगभग 5 लाख रुपया चोरी हुआ था, चोरों ने चोरी की घटना को अंजाम देने के बाद गन्ने के खेत में ही रुपए छिपा दिया था। ये रुपए शायद वहीं रकम हैं। लेकिन एक सवाल सबके मन में उठ रहा है कि खेत से सिर्फ 1 लाख 15 हजार रुपया बरामद हुआ है। बाकी रकम कहां गया जिसका पता लगाना पुलिस के चुनौती बना हुआ है।
हाटा कोतवाली प्रभारी जय प्रकाश पाठक ने बताया कि पुलिस कई बिंदुओं पर जांच कर रही है। इतने रुपए खेत में कहां से आए इसकी जांच करने के साथ ही रुपयों की पहचान भी कराई जा रही है।                             

डिजिटल इंडिया लोगों के जीवन का हिस्सा बना

बेंगलुरु। प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने बृहस्पतिवार को कहा कि केंद्र सरकार का ‘‘डिजिटल इंडिया’’ कार्यक्रम आज लोगों की जीवनशैली बन गया है, खासकर उन लोगों की जो गरीब हैं, हाशिए पर हैं तथा जो सरकार में हैं। वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से तीन दिवसीय प्रौद्योगिकी शिखर सम्‍मेलन ‘बेंगलुरु टैक समिट-2020’ का उद्घाटन करते हुए मोदी ने कहा कि उनकी सरकार का मॉडल ‘‘प्रौद्योगिकी पहले’’ है जिसका इस्तेमाल लोगों के जीवन में बहुत बदलाव लेकर आया है और इसके जरिए लोगों की गरिमा में वृद्धि हुई है।


मोदी ने कहा, ‘‘पांच साल पहले हमने डिजिटल इंडिया की शुरुआत की थी। मुझे यह बताते हुए खुशी हो रही है कि इसे सरकार की किसी सामान्य पहल की तरह नहीं देखा जा रहा है। डिजिटल इंडिया जीवनशैली बन गया है, खासकर उन लोगों की जो गरीब और हाशिए पर हैं तथा तथा जो सरकार में हैं।’’ प्रधानमंत्री ने कहा कि डिजिटल इंडिया की वजह से आज देश में मानव केंद्रित विकास हो रहा है। इतने बड़े स्तर पर इसके इस्तेमाल ने नागरिकों के जीवन में कई बदलाव किए हैं और इससे मिल रहे फायदे से हर कोई वाकिफ है।

उन्होंने कहा, ‘‘प्रौद्योगिकी के इस्तेमाल से मानव गरिमा में वृद्धि हुई है। आज करोड़ों किसानों को सिर्फ एक क्लिक के जरिए आर्थिक मदद पहुंचती है। जब देश में लॉकडाउन चरम पर था तब वह प्रौद्योगकी ही थी जिसने भारत के गरीबों को मदद सुनिश्चित की। उन्होंने कहा कि भारत ने सूचना के इस युग में विलक्षण ढंग से अपनी उपस्थिति दर्ज कराई है। उन्होंने कहा, ‘‘आज हमारे पास सर्वश्रेष्ठ दिमाग के साथ बड़ा बाजार भी है। हमारे प्रौद्योगिकी जगत के पास वैश्विक होने की क्षमता भी है। अब समय है कि भारत के प्रौद्योगिकी समाधानों को विश्व में ले जाएं।’’





 ‘बेंगलुरु टैक समिट’ में ऑस्‍ट्रेलिया के प्रधानमंत्री स्‍कॉट मॉरिसन, स्विस कॉन्‍फेडरेशन के उपाध्‍यक्ष गाई पार‍मेलिन और कई अन्‍य गणमान्‍य हस्तियां भाग लेंगी। इनके अलावा, इस कार्यक्रम में भारत तथा पूरे विश्‍व के अग्रणी विचारक, उद्योग जगत के अग्रिम पंक्ति के नायक, तकनीकी विशेषज्ञ, अनुसंधानकर्ता, नवोन्‍मेषक, निवेशक, नीति निर्माता तथा शिक्षा क्षेत्र की महत्‍वपूर्ण हस्तियां भी शामिल होंगी।




तीन दिनों के इस सम्मेलन का आयोजन कर्नाटक सरकार ने कर्नाटक नवाचार एवं प्रौद्योगिकी सोसाइटी (केआईटीएस), कर्नाटक सरकार के इन्‍फॉर्मेशन टेक्‍नोलॉजी संबंधी विजन ग्रुप, बायोटेक्‍नोलॉजी एंड स्‍टार्टअप, सॉफ्टवेयर टेक्‍नोलॉजी पार्क ऑफ इंडिया (एसटीपीआई) और एम.एम. एक्टिव साइंस टैक कम्‍युनिकेशन्‍स के सहयोग से किया है। इस वर्ष सम्‍मेलन का मुख्‍य विषय ‘नेक्‍स्‍ट इज नाओ’ है। इसके तहत कोविड-19 महामारी के बाद के विश्‍व में उभरती मुख्‍य चुनौतियां और ‘सूचना प्रौद्योगिकी एवं इलेक्‍ट्रॉनिक्‍स’ तथा बायोटेक्‍नोलॉजी के क्षेत्र में प्रमुख प्रौद्योगिकी और नवोन्‍मेषी तकनीकों के प्रभाव पर मुख्‍य रूप से चर्चा होगी।                                      


बद्रीनाथ के कपाट शीतकाल के लिए बंद हुए

बद्रीनाथ। भगवान बद्रीनाथ मंदिर के कपाट बृहस्पतिवार शाम साढ़े तीन बजे शीतकाल के लिए बंद हो जाएंगे। कपाट बंद करने के प्रकिया 15 नवंबर से शुरू हो गई थी। इस दिन गणेश की के कपाटा पूजा अर्चना के लिए बंद किए गए थे। 16 नवंबर को आदिकेदारेश्वर मंदिर के कपाट बंद हो गए थे। 17 नवंबर को खड़ग पुस्तक पूजा के साथ वेद ऋचाओं का वाचन बंद कर दिया गया था। 18 नवंबर को महालक्ष्मी पूजा संपन्न हुआ था। आज शाम 3बजकर 35 मिनट पर श्रीबद्री धाम के कपाट विधि विधान से बंद कर दिए जाएंगे। इस क्षण के अपनी नजरों में कैद करने के लिए भक्तजन और कई गणमान्य लोग वहां उपस्थित होंगे। इस कार्यक्रम के लिए मंदिर परिसर को फूलों से सजाया गया है।
इसके बाद कल यानी 20 नवंबर प्रात: 9:30 बजे श्री उद्धव जी, श्री कुबेर जी का पांडुकेश्वर एवं रावल जी सहित आदि गुरू शंकराचार्य जी की गद्दी श्री योगध्यान बदरी मंदिर पांडुकेश्वर होते हुए जोशीमठ के लिए प्रस्थान करेगी।
21 नवंबर 10 बजे प्रात: श्री योग ध्यान बदरी मंदिर पांडुकेश्वर से आदि गुरू शंकराचार्य जी की गद्दी श्री नृसिंह मंदिर जोशीमठ पहुंचेगी।                                     


देश कोरोना मृत्यु दर में आगे, विकास दर में पीछे

पालूराम


नई दिल्ली। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने बृहस्पतिवार को दावा किया कि नरेंद्र मोदी सरकार का रिपोर्ट कार्ड यह है कि भारत कोरोना वायरस संक्रमण से संबंधित मृत्यु दर के मामले में कई एशियाई देशों से आगे है और विकास दर में पीछे है। उन्होंने जानेमाने अर्थशास्त्री कौशिक बसु द्वारा संग्रहित आंकड़े साझा करते हुए ट्वीट किया, ‘‘मोदी सरकार का रिपोर्ट कार्ड: कोरोना मृत्यु दर में सबसे आगे, जीडीपी दर में सबसे पीछे।’’


कांग्रेस नेता ने जो आंकड़े साझा किए उसके मुताबिक, चीन, बांग्लादेश, इंडोनेशिया, पाकिस्तान और कई अन्य एशियाई देशों के मुकाबले भारत में कोरोना वायरस के कारण प्रति 10 लाख आबादी पर मरने वालों की संख्या ज्यादा है। इन आंकड़ों में यह भी दर्शाया गया है कि जीडीपी वृद्धि दर के मामले में भारत इन देशों से पीछे है।                                  


एमपी: परिजन ने मिट्टी का तेल डालकर लगाईं आग

मनोज सिंह ठाकुर       भोपाल। मध्य प्रदेश के सागर जिले के एक गांव में 25 वर्षीय युवक पर कथित तौर पर प्रेम प्रसंग के चलते युवती के परिजन ने मि...