गुरुवार, 13 अगस्त 2020

वैक्सीन पर शक करने वालों को जवाब

मास्को। रूस ने कोरोना के अपने टीके को लेकर उठी अंतरराष्ट्रीय चिंताओं को ख़ारिज करते हुए इसे 'बिल्कुल बेबुनियाद' बताया है। रूस ने मंगलवार को दावा किया था कि उसने अपने यहाँ एक टीका बना लिया है जिसका इंसानों पर लगभग दो महीने परीक्षण किया गया और फिर इसे मंज़ूरी दे दी गई।


लेकिन जानकारों ने रूस के इतनी तेज़ी से टीका बना लेने के दावे पर संदेह जताया। जर्मनी, फ़्रांस, स्पेन और अमरीका में वैज्ञानिकों ने इसे लेकर सतर्क रहने के लिए कहा। इसके बाद रूस के स्वास्थ्य मंत्री मिखाइल मुराश्को ने बुधवार को रूसी समाचार एजेंसी इंटरफ़ैक्स से कहा, "ऐसा लगता है जैसे हमारे विदेशी साथियों को रूसी दवा के प्रतियोगिता में आगे रहने के फ़ायदे का अंदाज़ा हो गया है और वो ऐसी बातें कर रहे हैं जो कि बिल्कुल ही बेबुनियाद हैं। रूसी मंत्री ने कहा कि इस टीके की पहली खेप अगले दो हफ़्तों में आ जाएगी और पहले ये मुख्य तौर पर डॉक्टरों को दिया जाएगा। रूसी अधिकारियों ने कहा है कि उनकी योजना है कि अक्तूबर महीने से बड़ी संख्या में लोगों का टीकाकरण शुरू हो जाएगा।         


वायरस का कहर, मंडी में पसरा सन्नाटा

इमरान


रुड़की। नगर में बढ़ रहे लगातार कोरोना संक्रमण के चलते रुड़की नगर निगम के अनेक मोहल्लों सहित नवीन मंडी स्थल को भी बंद कर दिया गया है। विदित रहे कि नवीन मंडी में 11 पल्लेदार तथा दो आढतियों के कोरोना पॉजिटिव मिलने के चलते नवीन मंडी को आगामी 4 दिनों के लिए बंद कर दिया गया है। इस दौरान  मंडी परिसर में सन्नाटा पसरा हुआ है और बंटी के बाहर  लोग फल सब्जियों की खरीदारी कर रहे हैं, रामपुर चुंगी स्थित नवीन मंडी में कोरोना के मरीज मिलने के बाद प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग की टीम मंडी परिसर पहुंची। रुड़की की ज्वाइंट मजिस्ट्रेट नमामि बंसल ने फिलहाल 4 दिनों के लिए मंडी को पूरी तरीके से बंद कर दिया गया है, मंडी स्थल पहुंची ज्वाइंट मजिस्ट्रेट नमामि बंसल ने स्वास्थ्य विभाग की टीम के साथ सभी आढती और पल्लेदारों की कोरोना जांच के आदेश दिए। इस दौरान मंटी को पूरी तरह बंद रखा जाएगा। उन्होंने कहा कि मंडी को बाहर से संचालित किया जाएगा, उनके अनुसार सौ के लगभग लोगों के सैंपल लिए गए हैं, इनमें तेरह लोग पॉजिटिव आए और प्राइमरी कांटेक्ट में आए 118 लोगों का भी ट्रेस किया गया है,जिसमें 78 लोगों के सैंपल लिए गए है। उनका कहना है कि जिलाधिकारी के आदेश के बाद कोरोना संक्रमित लोगों को प्री आइसोलेशन के लिए भेज दिया गया है, मंडी समिति के अध्यक्ष योगेंद्र सिंह पुंडीर का कहना है कि मंडी बंद के दौरान इसका संचालन बाहर से होगा तथा पूरे मंडी परिसर को सेनीटाइज किया जाएगा।              


राम जन्मभूमि ट्रस्ट के अध्यक्ष संक्रमित

लखनऊ। उत्तरप्रदेश से बड़ी खबर आ रही है राम जन्मभूमि में राम मंदिर भूमिजन में शामिल नत्य् महंत गोपाल दास कोरोना पॉजिटिव आये है। सीएम द्वारा मथुरा डीएम की दिशा निर्देश जारी कर मेदांता में बेहतर इलाज के लिए डॉक्टरों से सीएम योगी बात की। कृष्ण जन्माष्टमी पर मथुरा आये थे श्री गोपाल दास जी जिसके बाद उन्हें सास लेने में दिक्कत होने लगी।जाँच करने पर कोरोना पॉजिटिव आये इसलिए अस्पताल में भर्ती कराया।               


कीड़गंज में हुआ दधिकांदो मेला स्थागित

बृजेश केसरवानी


प्रयागराज। प्राचीन श्री दधिकांदो मेंला कमेटी शंकर लाल भार्गव मार्ग कीडगंज का दधिकांदो मेला इस वर्ष नही मनाया जाएगा। अनन्त चतुर्दशी के दिन होने वाला यह मेले पर कोविड 19 (कोरोना)के कारण प्रसाशन ने रोक लगा दी है। यह जानकारी श्री प्राचीन दधिकांदो मेला कमेटी के उपाध्यक्ष व दल संयोजक पंडित अंकुश शर्मा ने दी है। श्री शर्मा ने बताया कि जिलाधिकारी महोदय ने इस पर विचार विमर्श के लिए हम सबके साथ बकायदे संगम सभागार में मीटिंग की जिसमे उन्होने इस घातक बीमारी से लड़ने के लिए जनता से सहयोग मांगा है और अपील की है कि इसवर्ष दधिकांदो मेला सूक्ष्म तरीके से मनाया जाए प्रशासन की गाइड लाइन भी जारी की गई है जिसमें सिर्फ भगवान के पूजन को कमेटी के 5 लोगों के द्वारा करने की बात कहीं गई है। कमेटी के अध्यक्ष प्रण णविजय सिंह ने इस बात का समर्थन करते हुए सब से अपील की है की है कि सभी लोग अपने घर में रहकर त्यौहार मनाए इस दौरान महामंत्री सत्येंद्र तिवारी ने कहा है कि हम जनता को जूम एप के जरिए पूरे पूजन व वैदिक अनुष्ठान का वीडियो प्रसारित करने का कार्यक्रम बना रहे हैं।         



25 करोड़ के 13 मकान चिन्हित, रिपोर्ट

25 करोड़ के 13 मकान चिन्हित, डीएम को भेजी रिपोर्ट


बृजेश केसरवानी


प्रयागराज। पूर्व सांसद और बाहुबली नेता अतीक अहमद फिलहाल जेल में बंद हैं लेकिन उनकी मुसीबतें थमने का नाम नहीं ले रहीं। अतीक अहमद की बेनामी संपत्तियों का पता लगाकर पुलिस उसे गैंगस्टर एक्ट के तहत जब्त करने की कार्रवाई में जुट गई है। साथ ही उनकी पत्नी और बेटों के नाम से अब तक 13 मकानों को चिन्हित कर गैंगस्टर एक्ट 14 (1) के तहत सीज करने के लिए डीएम को रिपोर्ट भेजी है। इसकी कीमत 25 करोड़ के लगभग बताई जा रही है। हालांकि अभी फाइल डीएम कार्यालय में लंबित है।
अतीक गैंग के सदस्यों की अवैध संपत्ति पता लगाकर पुलिस उस पर बुलडोजर चलाने की तैयारी में है। इससे पूर्व भी पुलिस इस तरह की कार्रवाई कर चुकी है। गौरतलब है कि कुंभ 2019 की शुरुआत में ही पता चला था कि अतीक अहमद के भाई अशरफ ने जानसेनगंज चौराहे के समीप स्थित एक पुराने जर्जर मकान पर कब्जा कर लिया है। पुलिस प्रशासन ने मिलकर विवादित मकान पर बुलडोजर चलवा कर उसे जमींदोज कर दिया। तब अतीक के बड़े बेटे उमर ने पत्रकार वार्ता कर बताया था कि अशरफ ने उस मकान को खरीदा था। वर्तमान में उमर देवरिया जेल कांड में फरार चल रहा है। उस पर सीबीआई की ओर से दो लाख का इनाम है।               


वायरस से उत्पन्न हालात से बाहर निकले

नई दिल्ली। देशभर में फैली कोरोना वायरस महामारी की वजह से सभी लोगों को हर तरह से साफ सफाई का ध्यान रखना पड़ रहा है और जरूरी सावधानी भी बरतनी पड़ रही हैं। इसका मतलब ये है कि सभी लोगों को घर से बाहर जाने के लिए मास्क पहनना पड़ रहा है, जो बेहद जरूरी है। अब अगर आप भी मास्क लगाते हैं तो आपको पता होगा कि गर्मी में इसे लगाए रखना कितना मुश्किल है। साथ ही इससे होने वाली परेशानियां भी है।


मास्क पहनने से होने वाली सबसे बड़ी समस्या मास्कने है और अगर आप ये नहीं जानते हैं कि मास्कने क्या है तो आपको बता दें कि ये वो मुंहासें हैं, जो नियमित रूप से मास्क लगाने की वजह से हो जाते हैं। मास्क का इस्तेमाल मुख्य रूप से नाक और मुंह को ढकने के लिए किया जाता है, ताकि व्यक्ति बात करते हुए या सांस लेते हुए बैक्टीरिया की पकड़ में आने से बच जाए।


हालांकि, मास्क की वजह से त्वचा पर आने वाले पसीने और तेल की वजह से बैक्टीरिया त्वचा के आस-पास जमा हो जाता है और इस वजह से आपको मुंहासें हो जाते हैं। लेकिन इसका मतलब ये नहीं है कि आप मास्क पहनना छोड़ दें क्योंकि ये बिलकुल सुरक्षित नहीं है। आपको केवल मास्क पहनने के साथ अपनी त्वचा की थोड़ी अधिक देखभाल करने की जरूरत है।


आपकी त्वचा पर जमा हुए बैक्टीरिया से छुटकारा पाने के लिए दिन में 2 बार मुंह धोएं। साथ ही ऐसा मास्क पहने जिसमें आपको बहुत अधिक पसीना न आए। इसलिए आप इस्तेमाल करके फेंकने वाले मास्क का प्रयोग कर सकते हैं, ये स्किन इशू को भी रोकते हैं। मल्टीपल लेयर वाले मास्क केवल अधिक बैक्टीरिया ही अपने अंदर स्टोर करेंगे। हालांकि, अगर आप मल्टीलेयर मास्क का इस्तेमाल करते हैं, तो आप उन्हें नियमित रूप से पानी और साबुन से धोएं।         


गलवान घाटी के लिए जांच करवाएं 'भारत'

गलवान संघर्ष के लिए पूरी तरह से जांच कराए भारत


17 जून को चीनी विदेश मंत्री ने जयशंकर से कहा था


चीन- उल्लंघन करने वालों को जवाबदेह ठहराए भारत


बीजिंग। भारत और चीन के बीच लंबे समय से रिश्तों में कड़वाहट बनी हुई है। करीब 2 महीने पहले गलवान घाटी में दोनों देशों के सैनिकों के बीच हिंसक झड़प के बाद कई दौर की बातचीत हो चुकी है, लेकिन रिश्ते अभी सामान्य नहीं हुए हैं। इस बीच चीन ने 15 जून को हुई हिंसक झड़प में शहीद हुए 20 भारतीय जवानों के मामले में पूरी तरह से जांच की बात कही है। चीन की ओर से भारत में चीनी दूतावास द्वारा प्रकाशित एक मासिक पत्रिका चाइना-इंडिया रिव्यू के जुलाई अंक में कहा गया है कि 15 जून को गलवान में संघर्ष के दौरान शहीद हुए 20 भारतीय सैनिकों के मामले में भारत को पूरी तरह से जांच करानी चाहिए। पत्रिका ने कहा कि चीनी विदेश मंत्री वांग यी ने अपने भारतीय समकक्ष विदेश मंत्री एस. जयशंकर से भी इस संबंध में उस समय अनुरोध किया था, जब दोनों नेताओं ने 17 जून को फोन पर बात की थी। बातचीत के दौरान चीन की ओर से 'उल्लंघन करने वालों को पकड़ने' के लिए और 'सीमा पर (भारतीय) सैनिकों को कड़ाई से अनुशासन नहीं करने के लिए संघर्ष के लिए उन्हें जिम्मेदार ठहराया गया।


इंडोनेशिया ने भी शुरू किया ह्यूमन ट्रायल







तुर्की के बाद अब इंडोनेशिया ने भी शुरू किया कोरोना वैक्सीन का ह्यूमन ट्राईल       












अंकारा/ जकार्ता। बढ़ती कोरोना महामारी के बीच इंडोनेशिया कोविड-19 वैक्सीन को खोजने के प्रयासों को आगे बढ़ा रहा है। इंडोनेशिया ने कोरोना वैक्सीन का ह्यूमन ट्राइल शुरू कर दिया है।





वैक्सीन के क्लिनिकल परीक्षण का तीसरा चरण- जो चीन के सिनोवैक बायोटेक द्वारा अपने इंडोनेशियाई फार्मा समकक्ष, बायो फ़ार्मा के सहयोग से निर्मित है- हमंगलवार को शुरू हुआ और पद्मजराजन यूनिवर्सिटी स्कूल ऑफ मेडिसिन द्वारा बांडुंग, पश्चिम में छह स्थानों पर संचालित किया जा रहा है।

























           








बाढ़ के जल में डूबा 40 वर्षीय हरीश, मौत

अतुल त्यागी


बाढ के जल में.डूबा 40 वर्षिय. हरीश मौत


हापुड़। उपजिलाधिकारी गढमु्क्तेशवर विजयवर्धन सिंह तोमर मौके पर। आपको बता दें कि.पहाड़ों पर भारी बारिश से गंगा में आयी. बाढ ने.हापुड जनपद के गढमुक्तेश्वर क्षेत्र के गंगा की तलहटी में बसे गांवों में तबाही मचानी शुरू कर दी जिससे 40 वर्षिय यूवक की मौत हो गयी।
गंगा खादर के गांव साकरपुर निवासी यूवक हरीश 40 वर्ष बुद्धवार को शाम साइकिल से नया बांस की मढैया में घरेलू सामान लेने के लिये निकला था। लेकिन घर नहीं पहुंचा काफी तलाश के बाद वृहस्पतिवार को उसका शव पानी में तैरता हुआ मिला। पानी में डूबने के बाद मौत से न केवल हरीश के परिवार में कोहराम मचा बल्कि प्रसाशन में भी हडकम्प मच गया और आनन फानन में गढमुक्तेश्वर उपजिलाधिकारी विजयवर्धन सिंह तोमर मौके पर पहुंचे और गढमु्क्तेश्वर पुलिस ने शव कब्जे में लेकर पोष्टमार्टम को भेजा है।


कहाँ रही चूक........


आपक़ो अवगत करा दें कि हर वर्ष गंगा में बाढ को लेकर प्रशासन का लोगौं को हाइ अलर्ट यानि चेतावनी देते हुये कौई अन्य उपाय न करना भारी चूक रही जिससे एक की जिंदगी चली गयी। गंगा खादर में साकरपुर नया गांव लठीरा गंगानगर जैसे गांवों को पहले ही खाली कराकर बृजघाट आदि जगहों पर व्यवस्था की जाती थी। लेकिन इस बार जबकि क्षेत्र में बारिश नहीं होने के बावजूद भी पहाड़ी पर बारिश से करीब दो सप्ताह पहले से इन गांवों का जल जंगल एक था लेकिन प्रशासन कुंभकरणी नींद में सोता रहा। अब एक जान जाने के बाद प्रसाशन की आंख खुली तो देखना है कि क्या सुविधा इन लोगौं को मुहैया करायी जाती हैं।                        


हर्षोल्लास के साथ मनाई गई 'जन्माष्टमी'

अश्वनी उपाध्याय 


गाजियाबाद। श्री कृष्ण जन्माष्टमी के शुभ अवसर पर भारत रक्षा मंच लोनी विधानसभा के सभी कार्यकर्ताओं ने वार्ड न.13 पुष्पांजलि विहार एवं प्राचीन श्री लाल हनुमान मंदिर कंचन पार्क वार्ड न.54 पूर्वी मुस्तफाबाद लोनी मे भगवान श्री कृष्ण का जन्मदिवस बहुत उत्साह से ढोल नगाड़े घंटी, दीपक शंख की धुन के साथ मनाया गया। रात बारह बजे भगवान कृष्ण के जन्म होने पर सभी भक्तो ने बधाई या गाकर उनके आगमन का हर्षोंउल्लास के साथ कार्यक्रम मनाया गया। जिसमे इकराम नगर चोकी इंचार्ज श्री यतेन्द्र गोस्वामी, कंचन पार्क सभासद असफाक जी भारत रक्षा मंच मेरठ प्रात और विहिप जिला मिडिया प्रभारी संदीप गुप्ता, भारत रक्षा मंच से उपाध्यक्ष अंकित गोस्वामी, युवा मंच उपाध्यक्ष बिजेन्द्र विश्वकर्मा और लोनी मंत्री श्री जगन्नाथ विश्वकर्मा,जितेंद्र विश्वकर्मा,,वार्ड मंत्री आकाश विश्वकर्मा,मनोज शर्मा,दशरथ बेगाना,विनोद गौतम,अर्जुन गौतम,संजय ठाकुर,राकेश व अरूण भट्टाचार्य, वार्ड उपाध्यक्ष आन्नद भट्टाचार्य, वरूण भट्टाचार्य,  वार्ड महामंत्री सुब्रत मुर्खजी, वार्ड अध्यक्ष घनश्याम मुर्खजी, राकेशभट्टाचार्य, आदित्य भट्टाचार्य, आदि भक्तजन कार्यक्रम मे शामिल हुए।


दबिश पर गई पुलिस टीम, ग्रामीणों ने दौड़ाया

संतलाल मौर्य


कौशांबी। कानपुर एनकाउंटर का मामला अभी फीका भी नहीं हुआ है कि एक बार फिर यूपी पुलिसकर्मियों पर हमला हो गया। उत्तर प्रदेश के कौशांबी जिले में चोर को पकड़ने के लिए दबिश देने गई पुलिस की टीम पर ग्रामीणों ने हमला कर दिया। इसमे एक सिपाही और एक दारोगा गंभीर रूप से घायल हो गए। दोनों को इलाज के लिए जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। इतना ही नहीं ग्रामीणों ने दरोगा की रिवाल्वर व मोबाइल भी लूट लिया।


सैनी के नरसिंहपुर कछुवा का पिंटू व उसका भाई टिंकू शातिर अपराधी हैं। दोनों कई बार जेल जा चुके हैं। हाल ही में चोरी की कई घटनाएं हुई, जिमसें दोनों का नाम आ रहा था। कोतवाली के दारोगा के आर सिंह व सिपाही दिलीप छापेमारी के लिए टिंकू के घर पहुंचे। पुलिस टीम के पहुंचते ही टिंकू के परिजनों ने उनपर हमला बोल दिया। दारोगा व सिपाही से मारपीट की और उनकी रिवाल्वर व मोबाइल लूट कर हमलावर भाग निकले। सूचना पर सीओ रामवीर सिंह कई थानों की फोर्स के साथ पहुंचे। पुलिस ने टिंकू, पिंकू व उसकी मां कुलिया समेत आधा दर्जन लोगों को हिरासत में लिया है।


महिलाओं ने किया हमला
पुलिस के मुताबिक महिलाओं ने ईंट, पत्थर और डंडों से हमले किए जिसमें उपनिरीक्षक केआर सिंह व सिपाही दिलीप सिंह जख्मी हो गए। इस संबंध में एसपी अभिनंदन का कहना है कि पुलिस टीम के साथ कुछ लोगों ने मारपीट की है। पूरी घटना की जांच कराई जा रही है। आरोपियों पर सख्त कार्रवाई होगी।


हरियाणा-पंजाब में चलेगी 150 निजी ट्रेन

राणा ओबरॉय


चंडीगढ़। देश के साथ- साथ पंजाब- हरियाणा में जल्दी ही व्यापक स्तर पर कई प्राइवेट ट्रेंने चलाई जाएंगी। इन खास ट्रेनों को भारतीय रेल की तरफ से 109 रूटों पर चलने वाली 150 प्राइवेट ट्रेनों का रूट तैयार करके देश भर के अधिकारियों से सुझाव मांगे गए हैं। रेल मंत्रालय की तरफ से प्राइवेट ट्रेनों के संचालन, संरक्षा, वाशिंग और जिन रूटों पर ट्रेनें दौड़ेंगी, वहां, पहले और उसी समय कौन-कौनसी ट्रेनें चल रही हैं, इसकी टाइमिंग को लेकर भी सुझाव मांगे गए हैं। हरियाण पंजाब के हिस्से में इनमें से 14 प्राइवेट आने की संभावना है। जो कि तेजी के साथ फर्राटा भरेगी। इतना ही नहीं ये ट्रैन दिल्ली से चंडीगढ़ की दूरी महज तीन घंटे और दिल्ली से अमृतसर की दूरी साढ़े पांच घंटे में पार करेगी। ये तेजी से चलने वाली इन ट्रेनों का भी सपना साकार होने वाला है।


अगर इन ट्रेनों के चलने पर मुहर लग जाती है, तो इससे मौजूदा चल रही ट्रेनों के टाइम टेबल में बदलाव किया जाएगा। हरियाणा और पंजाब से भी 14 रूटों पर ये ट्रेनें दौड़ेंगी। इनमें दैनिक और साप्ताहिक ट्रेन भी शामिल हैं। मौजूदा समय में नई दिल्ली से चंडीगढ़ का सफर 4 घंटे 10 मिनट का है, जबकि नई दिल्ली से अमृतसर तक का सफर 6:20 मिनट का है। इन 14 ट्रेनों में 12 ट्रेनें प्रतिदिन दौड़ेंगी, जबकि अन्य दो ट्रेनें सप्ताह में तीन-तीन दिन अप-डाउन करेंगी। इन ट्रेनों की स्पीड 160 किलोमीटर प्रतिघंटा होगी। हरियाणा व पंजाब से चलने वाली ट्रेनें उत्तर भारत ही नहीं बल्कि महाराष्ट्र के नागपुर तक का सफर तय करेंगी।


पंजाब-हरियाणा से इन राज्यों के लिए 18 रूटों पर दौड़ेंगी ट्रेन



  • नई दिल्ली से अमृतसर दो ट्रेन

  • नई दिल्ली से चंडीगढ़ तीन ट्रेन

  • लखनऊ से कटरा के लिए दो ट्रेन

  • अमृतसर से फरीदाबाद दो ट्रेन

  • वाराणसी से बठिंडा दो ट्रेन

  • नागपुर से चंडीगढ़ दो ट्रेन

  • भोपाल से मुंबई दो ट्रेन

  • भोपाल से पूना दो ट्रेन शामिल

  • नई दिल्ली से ऋषिकेश दो ट्रेन

  • इंदौर से दिल्ली दो ट्रेन

  • नई दिल्ली से वाराणसी दो ट्रेन

  • आनंद विहार से दरभंगा दो ट्रेन

  • आनंद विहार से बडगाम तक दो ट्रेन

  • लखनऊ से दिल्ली दो ट्रेन आदि शामिल हैं।


क्या है अब तक की तैयारी ?



  • इन 150 ट्रेनों से देश के सभी प्रमुख स्टेशनों को जोड़ दिया गया है।

  • इन ट्रेनों की स्पीड 160 किलोमीटर प्रति घंटा की होगी।

  • हर सात हजार किलोमीटर पर इन ट्रेनों की संरक्षा को देखते हुए जांच की जाएगी।

  • प्रत्येक ट्रेन में 16 डिब्बे या इससे अधिक होंगे ताकि यात्रियों को टिकट कंफर्म मिल सके।

  • उधर, रेलवे ने प्राइवेट ट्रेनों के लिए रूट प्रस्तावित कर दिए हैं और ट्रेनों को चलाने के लिए प्राइवेट कंपनियों को आमंत्रित किया जा चुका है। इन सभी ट्रेनों के डिब्बे मेक इन इंडिया की नीतियों के तहत ही बनाए जाएंगे। इन ट्रेनों को दौड़ाने की जिम्मेदारी रेलवे के चालक की होगी।


हरियाणाः नालायक और सांडों की सरकार


राणा ओबराय


नालायक तथा सांडो की सरकारः पूर्व मंत्री कैप्टन अजय यादव




रेवाड़ी। हरियाणा के पूर्व मंत्री कैप्टन अजय यादव ने डीसी को ज्ञापन सौंपने के बाद पत्रकारों से बात करते हुए कहा हरियाणा की सरकार भाजपा की सरकार सिर्फ नालायक और सांडों की सरकार है। क्योंकि देश और प्रदेश में यह सरकारी संस्थानों को बेचने पर लगे हुए हैं। अजय यादव ने कहा सड़कों पर आवारा सांड घूम रहे हैं और सरकार उनकी तरफ ध्यान नहीं दे रही। उन्होंने कहा आवारा सांड रोज किसी न किसी को घायल करके मृत्यु की ओर धकेल रहे हैं। उन्होंने पत्रकारों से कहा यह हरियाणा की निकम्मी और नालायक सरकार है। इस सरकार ने रजिस्ट्री घोटाला शराबबंदी घोटाला के सिवा कोई और कार्य नहीं किया है। अजय यादव ने चेतावनी भरे लहजे में कहा सरकार आज चुनाव करा ले तो इनको अपनी औकात का पता लग जाएगा। सरकार कितनी लोकप्रिय है।



गाजियाबादः 31 अगस्त तक बढ़ी धारा 144

अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। जिलाधिकारी अजय शंकर पाण्डेय ने आज एक आदेश जारी कर धारा 144 की अवधि को 31 अगस्त तक के लिए बढ़ा दिया है। आदेश के अनुसार गणेश चतुर्थी और मोहर्रम के अवसर पर किसी प्रकार के सार्वजनिक आयोजन या जुलूस आदि की अनुमति भी नहीं होगी।


आपको बता दें कि कोरोना संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिए पिछले कई महीनों से गाज़ियाबाद में धारा 144 लगी हुई है।  इसके अलावा जिले को सैनिटाइज़ करने के उद्देश्य से हर सप्ताहांत पर 55 घंटों का मिनी लॉकडाउन भी लगाया जाता है। मिनी लॉकडाउन के दौरान शराब के ठेकों को छोड़ कर सभी बाज़ार बंद रहते हैं।


मिनी लॉकडाउन से बढ़ा व्यापारियों में रोष


हर शनिवार रात 10 बजे से लगने वाले इस मिनी लॉकडाउन से व्यापारियों और दैनिक वेतन भोगी मजदूरों में काफी रोष फैला हुआ है।  व्यापारियों का कहना है कि गाज़ियाबाद में ज़्यादातर वेतनभोगी परिवार रहते हैं। शनिवार और रविवार व्यापार के प्रमुख दिन होते हैं। ऐसे में दो दिन की साप्ताहिक बंदी ने व्यापारियों की कमर तोड़ कर रख दी है।  व्यापारियों के प्रतिनिधि मण्डल ने इस बारे में कई बार जिलाधिकारी से भेंट की है लेकिन वे किसी की बात को सुनने के लिए राजी नहीं है।


अभी हाल ही में एसोसिएशन ऑफ फूड ऑपरेटर्स  के अध्यक्ष अनिल कुमार गुप्ता ने भी मुख्यमंत्री व जिलाधिकारी को पत्र लिख हलवाइयों, बेकरी शॉप्स और रेस्टोरेंट्स को इस साप्ताहिक बंदी से छूट देने की मांग की थी लेकिन अन्य शिकायतों की तरह शायद उनकी शिकायत भी किसी ठंडे बस्ते में डाल दी गई है।


बढ़ रहा है पुलिस शोषण


गाज़ियाबाद के खुदरा किराना व्यापारियों का कहना है कि पुलिसवाले सप्ताहांत में वाले उन पर दुकानें बंद करने का दबाव बनाते हैं।  हालांकि आवश्यक वस्तु अधिनियम के अंतर्गत आने वाली वस्तुएँ जैसे दूध, अंडा और ब्रेड आदि बेचने की अनुमति है लेकिन पुलिसकर्मी इनकी दुकानें भी बंद करा देते हैं। बहुत से व्यापारियों ने दबी जुबान में बताया कि सुविधा शुल्क या मुफ्त राशन देने पर आधा शटर डाल कर दुकान खोलने कि अनुमति मिल जाती है लेकिन मंदी के आलम में मुफ्त राशन या सुविधा शुल्क देना गली मोहल्ले में दुकान लगाने वाले छोटे-मोटे दुकानदारों के बस से बाहर की बात है।


ऐन वक्त पर टला गाजियाबाद लैब उद्घाटन

अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। गुरुवार को होने वाला लैब का उद्घाटन ऐन वक्त पर टाल दिया गया। उद्घाटन के लिए जरूरी सारी तैयारियां हो चुकी थीं लेकिन, मशीन की किट नहीं आने से कार्यक्रम टालना पड़ा। जिले की पहली आरटी- पीसीआर (रीयल टाइम रिवर्स टांसक्रिप्सन पॉलीमर्स चेन रिएक्शन) लैब का उद्घाटन आज होना था। बुधवार देर शाम को लैब के गेट पर उद्घाटन से जुड़ा शिलापट भी लगा दिया गया था। इसमें मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ ही प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री जय प्रताप सिंह का नाम भी अंकित किया गया है।


एमएमजी अस्पताल के कार्यवाहक सीएमएस डॉ. सुनील कात्याल ने बताया कि लैब का उद्घाटन फिलहाल टाल दिया गया है। उनके मुताबिक लैब की मशीनें लग गई हैं, लेकिन किट नहीं आई है। लैब के संचालन के लिए दो महिला वैज्ञानिकों को तैनात किया गया है। वैज्ञानिक सुरभि दीक्षित की देखरेख में लैब की मशीनों को चालू करवा दिया गया है। लैब संचालन के लिए आइसीएमआर से अनुमति के साथ ही पोर्टल का पंजीकरण भी एमएमजी अस्पताल को मिल गया है। लैब शुरू होने के साथ ही नोएडा भेजे जाने वाले सैंपलों की जांच यहीं पर हो सकेगी।            


जन स्वास्थ्य से खिलवाड़, प्रशासन उदार

अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। जनपद के लोनी क्षेत्र में झोलाछाप डॉक्टरों पर जिला स्वास्थ्य प्रशासन मेहरबान है। झोलाछाप डॉक्टर द्वारा दुकान में ही अस्पताल चलाए जा रहे हैं। सूत्रों के अनुसार कार्रवाई के नाम पर अवैध वसूली की जाती है। इन डॉक्टरों पर अग्निशमन एवं प्रदूषण विभाग से भी कोई अनापत्ति प्रमाण पत्र नहीं है। 'नीम हकीम खतरे में जान' ताजा मामला लोनी बॉर्डर क्षेत्र के पाइपलाइन रोड एक क्लीनिक का है जहां पर 22 वर्षीय महिला की गलत इंजेक्शन या गलत जगह इंजेक्शन लगाने पर जान जाते-जाते बच गई महिला की तबीयत अभी खराब है। महिला को पीड़ा होने पर झोलाछाप डॉक्टर ने इंजेक्शन लगा दिया इंजेक्शन लगाते ही महिला के दोनों पैर अकड़ गए चलना बंद हो गया महिला को लेकर परिजन कई अस्पतालों में गए एमआरआई कराई गई सभी टेस्ट कराए गए कारण गलत इंजेक्शन लगाना बताया गया डॉक्टर अपने यहां सरकार के दिशा निर्देश लॉकडाउन के नियमों का उल्लंघन भी करता है। मास्क का प्रयोग नहीं करता है कोई सोशल डिस्टेंसिंग नहीं है। जिले के डिप्टी सीएमओ से मिलकर शिकायत की जाएगी एवं जांच की मांग की जाएगी।


सुदीक्षा को न्याय के लिए उग्र आंदोलन करेंगे

 जल्दी नहीं हुई गिरफ्तारी तो गुर्जर समाज उग्र आंदोलन करेगा 


 आत्मा की शांति के लिए सभी लोग अपने घरों पर आज दिए या मोमबत्ती जलाएं 


 न्याय दिलाने के लिए अखिल भारतीय गुर्जर महासभा आंदोलन करेगी 


अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। अखिल भारतीय गुर्जर महासभा युवा प्रदेश अध्यक्ष दिनेश गुर्जर ने बताया की सुदीक्षा के पिता जितेंद्र भाटी का दर्द असहनीय और अवर्णित है। सुदीक्षा की असमय मौत से न केवल इस परिवार को, क्षेत्र को या गुर्जर समाज को बल्कि पूरे देश को क्षति हुई है। 3 करोड़ 80 लाख की स्कॉलरशिप पर अमेरिका की बॉबसन यूनिवर्सिटी में पढ़ रही सुदीक्षा देश की प्रतिभा थी और वह बहुत आगे तक जाती। बहुत ऊंचाइयों को छूती। इस परिवार को कहां से कहां ले जाती।इसकी कल्पना की जा सकती है।
सुदीक्षा की मौत कोई सामान्य सड़क दुर्घटना नहीं है। यह एक तरह से हत्या है। मनचले काफी दूर से सुदीक्षा की बाइक का पीछा कर रहे थे। बार-बार अपनी बुलेट को कभी आगे कभी पीछे करते हुए फब्तियां कस रहे थे। फिर अचानक इनकी बाइक के आगे बुलेट लगा दी। जिससे ब्रेक लगाने पर इनकी बाइक गिर गई। सुदीक्षा का सिर सड़क में लगा और उसकी मौत हो गई। क्या इस मौत के लिए सीधे-सीधे वह मनचले जिम्मेदार नहीं है ? और इसे हत्या नहीं कहा जाएगा ? समझ से बाहर है कि बुलंदशहर पुलिस क्यों दोषियों को बचाने का षड्यंत्र कर रही है। पुलिस ने जितनी जल्दी इस मामले में बयानबाजी की और सोशल मीडिया पर सफाई दी किसी केस में पुलिस इतनी जल्दी सफाई नहीं देती है। सुदीक्षा की मृत्यु के लिए जिम्मेदार शोहदों को जल्दी से जल्दी गिरफ्तार कर कानून के कटघरे में खड़ा किया जाना चाहिए। और सुदीक्षा जैसी प्रतिभा के असमय अंत से उसके परिवार को पहुंची क्षति की कुछ भरपाई करने की कोशिश भी सरकार को करनी चाहिए। हमारी मांग है कि उत्तर प्रदेश सरकार सुदीक्षा के परिवार को  एक करोड़ रुपए का मुआवजा, एक सरकारी नौकरी और ग्रेटर नोएडा में एक मकान दे। सुदीक्षा के पिता जितेंद्र भाटी की इच्छा है कि उसकी बेटी के नाम से लड़कियों की शिक्षा के लिए कोई शिक्षण संस्थान अथवा सरकारी योजना शुरू की जानी चाहिए। क्योंकि उसकी बेटी एनजीओ के माध्यम से इस दिशा में कार्य कर रही थी और उसकी ऐसी इच्छा थी।
क्षेत्र से और दूर-दूर से भी काफी संख्या में लोग वहां आ रहे थे। और सभी इन मांगों पर सहमत थे। लोगों की यह भी मांग है कि घटना की निष्पक्ष जांच के लिए इसकी जांच हाई कोर्ट अथवा सुप्रीम कोर्ट के सिटिंग जज की देखरेख में बनी एसआईटी से कराई जाय। एक बात मैं अपनी ओर से सभी नौजवानों से कहना चाहता हूं। कृपया दुपहिया पर बिना हेलमेट के सफर ना करें। यदि सुदीक्षा ने हेलमेट पहना होता तो शायद आज वह हमारे बीच होती।             


पुलिसः 20 लाख फिरौती की गुत्थी सुलझाई

प्रदीप धनखड़


झज्जर। इलाके के एक होलसेल दवा विक्रेता से 20 लाख रूपए की फिरौती मांगे जाने की गुत्थी पुलिस ने सुलझा ली है। इस मामले में झज्जर पुलिस ने स्थानीय निजी कॉलेज के फार्मेसी में पढऩे वाले दो छात्रों समेत चार युवकों को गिरफ्तार किया है,जिन्होंने अपना कर्ज उतारने के लिए दवा विक्रेता से बीस लाख रूपए की फिरौती मांगी।


फिरौती मांगने के लिए मामले में पुलिस की गिरफ्त में आए दोनों आरोपियों में विक्रम गांव खेड़ी जट्ट व नीरज गांव खुंगाई जिला झज्जर के रहने वाले है और दोनों ही झज्जर के एसडी कॉलेज के फार्मेसी के छाaत्र है। पुलिस की माने तो इन दोनों छात्रों को दवा विक्रेता से फिरौती मांगने के लिए उकसाने का मुख्य सूत्रधार यहां जहांआरा बाग स्टेडियम के पास ही एक कैमिस्ट शॉप पर नौकरी करने वाला चिराग निवासी सीताराम गेट झज्जर नाम का युवक था। उसने ही फिरौती मांगने वाले इस मामले में मुखबिर का काम किया। इसके अलावा पुलिस ने जींद जिले के गांव पेगा के रहने वाले संजय नामक युवक को भी गिरफ्तार किया है। इन सभी ने योजनाबद्ध तरीके से फिरौती मांगने की इस घटना कोअंजाम दिया। पुलिस के अनुसार फिरौती के इस मामले में दिल्ली का एक युवक अभी पुलिस पकड़ से बाहर है। उसे जल्द ही गिरफ्तार कर लिया जाएगा।


चार अगस्त को झज्जर के दवा विक्रेता से बीस लाख की फिरौती मांगी गई थी। इस घटना को झज्जर के एक निजी कॉलेज में पढऩे वाले दो छात्रों ने अपना कर्ज उतारने के लिए अंजाम दिया था। विक्रम और नीरज नामक इन दो कॉलेज छात्रों को मुखबिरी झज्जर के ही एक कैमिस्ट शॉप पर काम करने वाले नीरज ने दी थी। इनके साथ जींद जिले के एक गांव का संजय भी शामिल था। इन सभी को गिरफ्तार कर लिया गया है। इस घटना में किसी गैंग का कोई हाथ नहीं था।              


बिना जांच के हत्या को बताया 'नेचुरल डेथ'

भानु प्रताप उपाध्याय


शामली/बुढ़ाना। फुगाना पुलिस का कारनामा देखिए कि उसने बिना जांच किए वृद्ध की हत्या को घटनास्थल पर ही सामान्य मौत बताते हुए हत्यारों को क्लीन चिट देकर मृतक के पुत्र को हत्यारों के खिलाफ तहरीर देने के बहाने से थाने में बुला बंधक बनाकर उससे मनचाहा ब्यान लिखवा लिया। दूसरी और हत्यारे देवेंद्र ने मृतक वृद्ध से विगत दिवस डेढ़ लाख रुपए उधार लिए थे। वृद्ध अपने रुपयों की मांग कर रहा था तो हत्यारे ने वृद्ध की ही हत्या कर दी। हत्यारा सत्ताधारी पार्टी भाजपा से जुड़ा हुआ है। पीड़ित न्याय पाने को फुगाना थाने के चक्कर काट रहा है तो पुलिस रिपोर्ट दर्ज नहीं कर रही। अब मामले की जांच एसएसपी अभिषेक यादव द्वारा फुगाना सीओ को सोंपी गई है। बुढ़ाना तहसील क्षेत्र के गांव हबीबपुर सीकरी निवासी वृद्ध पूरण से गांव के देवेंद्र ने डेढ़ लाख रुपया उधार लिया था। वृद्ध देवेंद्र से अपने रुपयों की मांग कर रहा था। तब देवेंद्र ने वृद्ध को रुपये मांगने पर हत्या की धमकी दी थी। इस बात की शिकायत वृद्ध पूरण के पुत्र मोहन‌ने थाने में की थी। मामले की जांच तत्कालीन एसआई बीएस यादव ने की थी। जिसमें एसआई श्री यादव ने आरोपी देवेंद्र से सांठ गांठ कर पीड़ित मोहन पर ही इल्जाम लगाया था कि देवेंद्र तुम्हारे यहां मजदूरी करता है। तुम्हीं ने उसकी मजदूरी के 48 हजार रुपए रख रखे हैं। जबकि देवेंद्र भाजपा नेता हैं और उसने कभी भी मजदूरी का काम मोहन के यहां तो दूर की बात किसी के यहां भी नहीं किया। तब पीड़ित मोहन ने एसआई की शिकायत पीएम, सीएम, एसएसपी व डीएम को की तो जांच में एसआई श्री यादव की बात झूठी पाई गई। जिसमें एसआई को यहां से हटा दिया गया था। जांच तत्कालीन फुगाना सीओ कालू सिंह को सौंपी गई थी तो देवेंद्र उसमें आरोपी पाया गया था। सीओ ने फुगाना पुलिस को आरोपी देवेंद्र के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज करने के निर्देश दिए थे लेकिन फुगाना पुलिस ने भाजपा नेताओ के दबाव में आकर मोहन की रिपोर्ट देवेंद्र के खिलाफ दर्ज नहीं की थी। अब घटना बीती 26 जुलाई सन् 2020 की है। जिसमें पीड़ित मोहन के वृद्ध पिता पूरण सुबह के समय अपने खेतों में गये थे। डेढ़ बजे पूरण का पुत्र मोहन‌ जब पिता का खाना लेकर खेतों पर गया तो 4 लोग उसको देखकर भागे। जिनमें से मोहन ने गांव के देवेंद्र पुत्र पीरु को पहचान लिया। अन्य 3 को उसने नहीं पहचाना। जब मोहन टयूबवैल पर आया तो उसके पिता निर्वस्त्र मृत अवस्था में मिले। घटनास्थल पर और काफी दूर तक खून बिखरा था। मृतक के कुछ कपड़े ईंख के खेत में मिले। घटना की सूचना फुगाना पुलिस को दी तो मौके पर एक घंटे बाद पुलिस पहुंची। पुलिस ने मृत पूरण को देखकर बताया कि ये मर्डर नहीं है स्वाभाविक मौत है। तब ग्रामीणों में आक्रोश फैल गया था। मृतक के पुत्र ने बताया था कि उसके पिता की हत्या देवेंद्र व उसके साथ आये 3 बदमाशों ने की है लेकिन पुलिस ने मृतक के पुत्र की एक नहीं सुनी। पुलिस ने शव उठाना चाहा तो पुलिस के रवैए से खफा लोगों ने शव‌ उठने नहीं दिया। काफी जद्दोजहद के बाद तय हुआ कि मोहन थाने जाकर अपने पिता के हत्यारों के खिलाफ तहरीर देगा। जिस पर ग्रामीण मान गये और पुलिस ने शव को पीएम के लिए भिजवाकर मृतक के पुत्र को थाने बुलवा लिया और उसको थाने में बंधक बनाकर लिखवाया कि वह ये लिखे कि उसके पिता की मौत खून की उल्टियां होने से हुई है। मृतक पुत्र ने अपनी जान बचाने के उद्देश्य से यही लिख दिया। जबकि सच ये है कि देवेंद्र ने ही वृद्ध की हत्या की है। पीड़ित को आज 19 दिन हो गए लेकिन अब तक उसको कोई न्याय नहीं मिला। पीड़ित के पास आज तक पुलिस भी नही आई और न ही उसके पिता की रिपोर्ट दर्ज की। इस मामले में पीड़ित एसएसपी के पास पहुंचा तो वहां मौजूद पुलिस अधिकारियों ने सीओ को जांच सोंप दी।            


31 अगस्त तक धर्मस्थल रहेंगे बंदः डीएम

रिपोर्ट आलोक कुमार


मैनपुरी। जिलाधिकारी महेंद्र बहादुर सिंह ने विभिन्न समुदाय के धर्मगुरुओं, सम्भ्रान्त नागरिकों के साथ आयोजित बैठक में कहा कि लॉकडाउन से लेकर अब तक सभी जनपदवासियों ने जिला प्रशासन का सहयोग किया है, सभी धर्मों के लोगों ने समाज के हितों को ध्यान में रखकर सर्वसम्मति से निर्णय लिए हैं, सभी ने महत्वपूर्ण त्योहारों पर निर्धारित नियमों का पालन करते हुये घरों में ही पूजा-अर्चना, इबादत की है, अभी कोरोना संक्रमण का खतरा कम नहीं हुआ है, इसलिए सभी लोग आगे भी इसी प्रकार अपने दायित्वों का निर्वहन करें, घरों में ही जन्माष्टमी, गणेश चतुर्थी, मोहर्रम आदि त्योहार मनाएं, कोई भी ऐसा कृत्य न करें, जिससे संक्रमण का खतरा बढ़े, घरों में ही परम्परागत तरीके से त्योहार मनाएं, यथा संभव घरों में ही रहें, बहुत आवश्यक हो तभी घरों से निकले, मास्क, गमछे, सामाजिक दूरी का पालन करें, एक समय पर एक स्थान पर 05 से अधिक व्यक्ति एकत्र न हों, मंदिर-मस्जिद, चर्च-गुरुद्वारा में भी एक समय पर 05 व्यक्ति ही मौजूद रहकर इबादत करें।
बैठक में धर्मगुरुओं, सम्भ्रान्त व्यक्तियों ने समाज के हितों, विश्वव्यापी महामारी को दृष्टिगत रख सर्वसम्मति से निर्णय लेते हुए कहा कि 31 अगस्त तक पूर्व की भांति ही इबादत, पूजा-अर्चना की जाएगी, श्री कृष्ण जन्मोत्सव, गणेश चतुर्दशी, मोहर्रम के त्योहार सभी लोग परम्परागत ढंग से अपने-अपने घरों में मनाएगें, कहीं भी भीड़ एकत्र नहीं होगी, किसी प्रकार के जुलूस का आयोजन भी नहीं किया जायेगा। कोराना वायरस संक्रमण की रोकथाम हेतु सभी समुदाय के धर्मगुरुओं ने एक स्वर से यह फैसला लिया है।
जिलाधिकारी ने धर्मगुरुओं, सम्भ्रान्त नागरिकों द्वारा लिए गए फैसले का स्वागत करते हुए कहा कि कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए किसी भी स्थान पर भीड़ को एकत्र न होने दें, अभी संक्रमण का खतरा बना हुआ है यदि संक्रमित व्यक्ति मंदिर, मस्जिद,, गुरुद्वारा, चर्च पहुंचा तो संक्रमण फैलने का खतरा तेजी से बढ़ेगा इसलिए सभी इस बात का पूरा ध्यान रखें कि कोई भी बाहरी व्यक्ति किसी धार्मिक स्थल में प्रवेश न करें। उन्होने कहा कि एक समय पर किसी भी धार्मिक स्थल में 05 से अधिक व्यक्ति एकत्र न हांे। उन्होंने कहा कि जिला प्रशासन का मकसद किसी के विरुद्ध कार्यवाही करना नहीं बल्कि सभी के सहयोग से महामारी के संक्रमण को रोककर सभी को सुरक्षित करना है। उन्होने धर्मगुरूओं का आव्हान करते हुये कहा कि कोरोना के संक्रमण से बचने के लिए बरती जाने वाली सावधानियों के बारे में अपने-अपने समुदाय के लोगों को जागरूक करें, अनावश्यक घरों से बाहर न निकलने, मुंह, नाक को अच्छी तरह मास्क से ढकने, सामाजिक दूरी का पालन करने के लिए प्रेरित करें ताकि कोरोना संक्रमण को रोका जा सके।
बैठक में विभिन्न समुदाय के धर्मगुरु, सम्भ्रान्त व्यक्तियों के अलावा अपर जिलाधिकारी बी.राम, अपर पुलिस अधीक्षक मधुबन कुमार सिंह, उप जिलाधिकारी किशनी, सदर, भोगांव, करहल, कुरावली, घिरोर ऋषिराज, रजनीकांत, सुधीर कुमार, रतन वर्मा, अनूप कुमार, अनिल कटियार, क्षेत्राधिकारी सदर, भोगांव, करहल, कुरावली, अभय राय, अमर सिंह, अशोक कुमार, दद्दन प्रसाद आदि उपस्थित रहे।             


जन्माष्टमी पर एसएसपी का विशेष इंतजाम

बस्ती। कप्तानगंज बस्ती थानाध्यक्ष हरे कृष्ण उपाध्याय द्वारा जन्माष्टमी के पावन पर्व पर पूरे पूरे थाना क्षेत्र में सुरक्षा के बेहतर इंतजाम किए गए हैं। मुलाकात के दौरान थाना अध्यक्ष ने बताया कि कहीं पर भी सार्वजनिक अर्थात भीड़भाड़ वाले कार्यक्रम के आयोजन की अनुमति नहीं है तथा किसी प्रकार का कोई जुलूस आदि नहीं निकाला जा सकता है। परिवार के लोग इस पर्व को आपस में हर्षोल्लास के साथ मना सकते हैं। साथ ही क्षेत्र में बढ़ते हुए करोना केस के मद्देनजर उन्होंने जनता से अपील की है कि जब काफी आवश्यक हो तभी घर से बाहर निकले सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें। तथा मास्क का प्रयोग करें समय-समय पर अपने हाथों को साबुन से धूलते रहें भीड़भाड़ वाले स्थानों पर सोशल डिस्टेंस बनाए रखें। इसी क्रम में सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के प्रभारी चिकित्सा अधिकारी डॉ विनोद कुमार ने भी बताया कि जब काफी आवश्यक हो तभी घर से बाहर निकले तथा स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी किए गए निर्देशों सुझावों का बेहतर ढंग से पालन करें और इस महामारी से पूरी तरह से बचें। जांच पड़ताल में पूरी तरह सहयोग करें। डरें नहीं खुद जांच कराएं और अपने पड़ोसियों को भी जांच हेतु प्रेरित करें ।               


दरोगा ने भाजपा 'विधायक' की पिटाई की

गोंडा। थाने में एक कार्यकर्ता की पैरवी करने जाना एक विधायक को काफी भारी पड़ी। वहां ने विधायक जी की जमकर खातरदारी की। मामला अलीगढ़ जिले की इगलास सीट के बीजेपी विधायक राजकुमार सहयोगी ने पुलिस पर उन्‍हें पीटने का आरोप लगाया है। विधायक ने आरोप लगाया कि पुलिस ने उनके कपड़े तक फाड़ डाले।यह पूरा मामला गोंडा थाने में हुआ। जब विधायक एक मामले की पैरवी करने थाने गए थे। तभी कहा सुनी हुई और 3-3 दरोगा उनकी उन्हें पीटने लगे। जबकि पुलिस का कहना है कि विधायक और उनके सहयोगियों ने पुलिस को अपशब्‍द कहे और पुलिसकर्मी को चांटा मारा।
विधायक राजकुमार सहयोगी की थाने में पुलिस द्वारा कथित पिटाई की खबर फैलते ही सैकड़ों की संख्या में भाजपा कार्यकर्ता घटना के विरोध में थाने पर एकत्र हो गए। मौके पर पहुंचे अधिकारियों ने स्थिति को संभाला। स्थिति तनावपूर्ण है और गोंडा थाने पर अतिरिक्त पुलिस बल भेजा गया है और आसपास की मार्केट बंद करा दी गई।               


शहीद की याद में 'बलिदान' दिवस मनाया

बृजेश केसरवानी


प्रयागराज। शहीद अब्दुल मजीद राईन को खिराजे अक़ीदत पेश की गईl भारत छोड़ो आंदोलन गाँधी जी के आह्वान पर जॉनस्टोन गंज चौराहा से घंटा घर ओर आ रहे नौजवानों ने राष्ट्रीय ध्वज लहराते हुए, इंक़लाब जिंदाबाद अंग्रेजो भारत छोड़ो का नारा बुलंद का नेतृत्व करते हुए सहीद अब्दुल मजीद राईन घंटा घर की ओर बढ़ रहे थे। तभी अंग्रेजी हुकूमत के ज़ालिम हुक्मरानो ने शहीद अब्दुल मजीद राईन 
शहीद मुरारी मोहन भट्टाचार्य एवं भगवती प्रसाद को सीने को छलनी कर दिया और 13 अगस्त 1942 की याद मे बलिदान दिवस मनाया गया आज शहीद के भतीजे मोहम्मद कादिर (कादिर भाई )जिलाध्यक्ष प्रयागराज व्यापार प्रतिनिधि मण्डल प्रयागराज ने घंटा घर स्तिथ शहीद स्थल पर माल्यार्पण कर उनको खिराजे अक़ीदत पेश की। मोहम्मद शकील राईन, मोहम्मद रिजवान राईन, प्रयाग व्यापार मण्डल अध्यक्ष विजय अरोरा, रोशन बाग व्यापार मण्डल अध्यक्ष दिलजीत सिंह बंटी, महामंत्री मोईन अख्तर वरिष्ठ उपाध्यक्ष सोएब एखलाक, फय्याज अटाला, मोहम्मद अमीर (समाजसेवी ),व्यापारी नेता मुसाब खान (चौक ),मोहम्मद तारीफ पौत्र लल्लन भाई आदि।


सपा-भाजपा की सरकार में क्या अंतरः माया

बृजेश केसरवानी


लखनऊ। बसपा अध्‍यक्ष मायावती ने अलीगढ़ में भाजपा विधायक और पुलिस के बीच थाने में हुई मारपीट की घटना को लेकर एक बार फिर उत्‍तर प्रदेश की कानून-व्‍यवस्‍था पर सवाल उठाए हैं। गुरुवार सुबह ट्वीट कर उन्‍होंने सवाल उठाया कि अपराध नियंत्रण और कानून व्‍यवस्‍था के सपा और भाजपा की सरकार में क्‍या अंतर रह गया है।


मायावती ने लिखा कि उत्‍तर प्रदेश में कानून-व्यवस्था दम तोड़ रही है। कल अलीगढ़ में स्थानीय भाजपा विधायक और पुलिस द्वारा एक-दूसरे पर लगाया गया आरोप और मारपीट अति-गंभीर और काफी चिन्ताजनक है। उन्‍होंने इस प्रकरण की न्यायोचित जांच कराकर जो भी दोषी हो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की। बसपा अध्‍यक्ष यहीं नहीं रुकीं।उन्‍होंने लिखा कि यूपी में इस प्रकार की लगातार हो रही जंगलराज जैसी घटनाओं से यह स्पष्ट है कि खासकर अपराध-नियंत्रण और कानून-व्यवस्था के मामले में सपा व बीजेपी की सरकार में भला फिर क्या अन्तर रह गया है? सरकार इस पर समुचित ध्यान दे, बीएसपी की जनहित में यही सलाह है।               


दीवार के नीचे दबकर पिता-पुत्र की मौत

सुल्तानपुर। उत्तर प्रदेश के सुल्तानपुर में 12 घंटे से अधिक समय से हो रही बारिश जानलेवा साबित हुई है। बारिश के चलते कच्ची दीवार गिरने से पिता-पुत्र की मौत हो गई है। इस हादसे में दो अन्य लोग जख्मी हो गए, जिनको जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। घटना के बाद से परिवार में मातम पसरा हुआ है। जानकारी के अनुसार हृदय विदारक घटना जिले के हलियापुर थाना क्षेत्र का है। लगातार हो रही बारिश से बुधवार रात कस्बे में राम अचल के कच्चे मकान की दीवार गिर गई। हादसे में मलबे में दबकर पिता राम अचल (55) व राम हृदय (16) की दर्दनाक मौत हो गई। इसके अलावा मृतक की पत्नी बचाना देवी (50) और पुत्री आरती (12) गंभीर रूप से घायल हुई हैं। दोनों को इलाज के लिए जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है, जहां उनका इलाज चल रहा है।


एसओ हलियापुर अरशद खान ने बताया कि पिता-पुत्र के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है। मौके पर राजस्व टीम भी पहुंची, नुकसान का आकलन कर आपदा राहत कोष से परिवार को मदद पहुंचाने की कवायद किया जा रहा है। पुलिस ने शवों को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।              


योगी ने फैलाया जातिवाद, ठाकुरों की सरकार

उमेश भट्ट


लखनऊ/गोरखपुर। उत्तर प्रदेश में सिर्फ ठाकुरों की सरकार, यूपी मे योगी सरकार ने फैलाया जातिवाद। योगी सरकार की एसटीएफ स्पेशल ठाकुर फोर्स है जो लोगों को चुन चुन कर मार रही है। योगी सरकार बताए की जिलों और मुख्यमंत्री कार्यालय में कितने डीएम, एसपी, थानेदार निषाद, कुर्मी पाल, मौर्य, नाई, तेली, वाल्मीकि, जाटव और खटिक समाज से है।



योगी सरकार में ब्राह्मणों पर चुन-चुन अन्याय, अत्याचार हो रहा है, उपमुख्यमंत्री दिनेश शर्मा ब्रह्मणो के साथ हो रहे अन्याय के ख़िलाफ़ आवाज़ क्यों नहीं उठाते ? दिनेश शर्मा इस सरकार में इतने लाचार और बेबस क्यों है ?–संजय सिंह

आम आदमी पार्टी के उत्तरप्रदेश प्रभारी और राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने राजधानी लखनऊ में प्रेसवार्ता कर यह आरोप लगाया कि उत्तर प्रदेश में सिर्फ ठाकुरों की सरकार चल रही है। 

योगी सरकार मे है दलित नाराज- संजय सिंह 

उन्होंने कहा कि दो दिन पहले मैंने योगी जी से पूछा था कि यदि राम मंदिर के भूमि पूजन में यूपी की राज्यपाल को बुलाया गया था तो देश के राष्ट्रपति को क्यों नहीं बुलाय गया ? क्या इसलिए नहीं बुलाया गया क्योंकि वे दलित हैं ? पूरे देश में इस बात पर दलितों में भारी रोष है कि भाजपा ने इस कृत्य से दलितों का अपमान किया है। जब से मैंने ये बोला, मेरे पास पूरे यूपी से ढेरों फ़ोन आ रहे हैं। लोग कह रहे हैं कि योगी सरकार ना केवल दलितों के ख़िलाफ़ है बल्कि योगी सरकार केवल ठाकुरों की सरकार है। ठाकुरों के अलावा ये और किसी के लिए कोई काम नहीं करते। यूपी का बच्चा बच्चा बोल रहा है कि योगी सरकार केवल ठाकुरों की सरकार है।

यूपी की एसटीएफ है स्पेशल ठाकुर फोर्स- संजय सिंह

इनकी जो STF है लोग उसे स्पेशल ठाकुर फ़ोर्स बोलते हैं। स्पेशल ठाकुर फ़ोर्स लोगों को चुन चुन कर मार रही है। योगी सरकार ने पूरे यूपी में ज़बरदस्त जातिवाद फैला दिया है जहां ठाकुरों को छोड़कर बाक़ी सभी जातियों के लोगों के साथ अन्याय हो रहा है।

योगी सरकार ब्राह्मण विरोधी- संजय सिंह

आज प्रदेश के ब्राह्मण योगी जी से बेहद नाराज़ हैं। आप किसी भी ब्राह्मण से पूछ लीजिए। वो आपको योगी जी के ख़िलाफ़ अपना ग़ुस्सा बताएगा। ब्रह्मणो का चुन चुन कर मार रही है। भाजपा के अपने 58 विधायक ब्राह्मण हैं । वे सभी बेहद ग़ुस्सा हैं। दिनेश शर्मा जी खुद ब्राह्मण हैं। मैं उनसे पूछना चाहता हूँ, वो ब्रह्मणो के साथ अन्याय के ख़िलाफ़ आवाज़ क्यों नहीं उठाते? दिनेश शर्मा इस सरकार में इतने लाचार और बेबस क्यों है ?

मौर्या समाज योगी से नाराज- संजय सिंह

आज प्रदेश के मौर्या समाज के लोग भी योगी जी से नाराज़ हैं। केशव प्रसाद मौर्या जी अपने कार्यकाल में एक भी मौर्या के लिए कोई काम नहीं करवा पाए। बताइए प्रदेश में केशव प्रसाद जी ने कितने मौर्या लड़कों को नौकरी दिलवायी? आज कितने मौर्या, तेली प्रदेश में DM SP, थानेदार हैं ? केशव मौर्या का भाजपा ने केवल वोट के लिए इस्तेमाल किया। आज केशव मौर्या खून के आंसू रोते हैं लेकिन बेबस हैं। कुछ बोलेंगे तो उन्हें पार्टी से निकाल दिया जाएगा। पूरा मौर्या समाज इस बात से नाराज़ है।

राजभर समाज है योगी से नाराज- संजय सिंह

आज पूरे यूपी के राजभर योगी जी से नाराज़ हैं। उनका कहना है कि योगी सरकार केवल ठाकुरों की सरकार है। प्रदेश भर से मेरे पास ना जाने कितने राजभर समाज के फ़ोन आए। खजुरी गांव, जलालपुर अम्बेडकर नगर के आकाश राजभर ने फोन पर बताया कि किस तरह पिछले चुनाव में उन्होंने एक एक गाँव ने जाकर भाजपा के लिए काम किया था। आज भाजपा के बड़े नेता फ़ोन तक नहीं उठाते। योगी सरकार ने कितने राजभर लड़कों को नौकरी दी, कितने राजभर समाज के काम किए? एक काम नहीं किया। 

तमाम जाति के लोग हैं काफी नाराज- संजय सिंह

उन्होंने कहा मेरे पास पिछले दो दिन में ना जाने कितने फ़ोन आए हैं। कुर्मी समाज के, गड़रिया समाज के, कश्यप समाज के, लोध समाज के, कुम्हार समाज के, तेली समाज के, नाई समाज के, बढ़ई समाज के, बाल्मीकि समाज, जाटव समाज, सोनकर समाज, पासवान समाज के, धोबी समाज के, कोली समाज के - इन सबके फ़ोन आए। सब लोग योगी सरकार से ग़ुस्सा हैं। सबका कहना है कि योगी सरकार केवल ठाकुरों के लिए काम करती है। उन्होंने इनके समाज के लिए अभी तक कोई काम नहीं किया। योगी सरकार केवल ठाकुरों की सरकार है।

आम आदमी पार्टी के एससी/एसटी प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष महेश वाल्मीकि ने इस दौरान कहा कि उत्तर प्रदेश में दलित समाज की घोर उपेक्षा हो रही है जिसको लेकर दलितों में बड़ा आक्रोश है, संजय सिंह के सवाल पूरी तरह से जायज़ हैं और हमारा समाज पूरी तरीके से अरविंद केजरीवाल, आम आदमी पार्टी और संजय सिंह के साथ है। 

समाज सेविका सन्ध्या राजभर ने कहा कि पिछले चुनावों में राजभर समाज भाजपा के साथ था, योगी सरकार ने हमारे समाज की बड़ी उपेक्षा की, समाज के लोगों को न रोज़गार मिला और न अच्छे पदों पर तैनाती मिली, समाज मे इन सब बातों को लेकर आक्रोश है, इस सरकार में महिलाओं पर हिंसक वारदात बढ़ी हैं और सरकार महिलाओं को सुरक्षा देने में नाकाम है, राजभर समाज के साथ साथ, में चूंकि एक महिला हूँ, अपने आपको असुरक्षित महसूस कर रही हूं। 

प्रेस कॉन्फ़्रेंस में मुख्य रूप से आम आदमी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष सभाजीत सिंह, सह प्रभारी ब्रिज कुमारी, सह प्रभारी नदीम अशरफ जायस, प्रदेश प्रवक्ता महेंद्र प्रताप सिंह, प्रिंस सोनी, सरबजीत सिंह मक्कड़, राजीव बख्शी, यूथ विंग के प्रदेश अध्यक्ष फैसल वारसी, महिला विंग की प्रदेश अध्यक्ष नीलम यादव, CYSS प्रदेश अध्यक्ष वंशराज दुबे, प्रदेश उपाध्यक्ष राजेश यादव, अनुराग मिश्र, इमरान लतीफ, हरि नारायण चौहान, प्रदेश सचिव विनय पटेल आदि उपस्थित रहे। यह जानकारी आम आदमी पार्टी गोरखपुर के जिला महासचिव अजय साहनी ने आज दी।           


पुलिस कांस्टेबल की 5846 पदों पर भर्ती

नई दिल्ल।  कर्मचारी चयन आयोग (SSC) ने दिल्ली में कांस्टेबल (Executive) के 5846 पदों पर भर्ती के लिए आवेदन शुरू हो गए हैं। एसएससी की ओर आयोजित की जाने वाली दिल्ली पुलिस कांस्टेबल भर्ती लिए आवेदन एक अगस्त से एसएससी की वेबसाइट ssc.nic.in पर शुरू हो गए हैं। एसएससी दिल्ली पुलिस कांस्टेबल भर्ती 2020 के लिए शैक्षिक योग्यता, नियम व अन्य शर्तों से जुड़ी जानकारी–

महत्वपूर्ण तिथियां


कांस्टेबल भर्ती के आवेदन शुरू होने की तिथि – 01 अगस्त 2020
आवेदन की अंतिम तिथि – 7 सितंबर 2020
ऑनलाइन आवेदन फीस जमा कराने की अंतिम तिथि – 9 सितंबर 2020
ऑफलाइन चालान से आवेदन फीस जमा कराने की अंतिम तिथि -14 सितंबर 2020
कम्प्यूटर बेस्ड परीक्षा (CBT) की तिथि – 27 नवंबर से 14 दिसंबर 2020 तक


शैक्षिक योग्यता –







दिल्ली पुलिस कांस्टेबल भर्ती के लिए अभ्यर्थी को किसी भी मान्यता प्राप्त बोर्ड से सीनियर सेकंडरी (10+2) पास होना जरूरी है।






आयु सीमा –आवेदक की उम्र 18 से 25 वर्ष के बीच होनी चाहिए। आयु में छूट के लिए नोटिफिकेशन देखें।


आवदेन शुल्क –



  1. सामान्य व ओबीसी के लिए- 100 रुपए

  2. महिला उम्मीदवारों और एससी-एसटी व एक्स सर्विसमैन के लिए कोई आवेदन शुल्क नहीं।

  3. अभ्यर्थी भीम यूपीआई, नेट बैंकिंग, वीजा, मास्टर कार्ड आदि के जरिए ऑनलाइन पेमेंट कर सकते हैं। इसके अलावा बैंक चालान से

  4. ऑफलाइन मोड से भी आवेदन किया जा सकता है।


वेबसाइट – http://ssc.ni.in/


रूसी वैक्सीन का दिख रहा है साइड इफेक्ट

मास्को/नई दिल्ली। दुनियाभर में रूसी वैक्सीन स्पुतनिक-वी पर सवाल उठ रहे हैं। 11 अगस्त को दुनिया की पहली कोरोना वैक्सीन के रजिस्ट्रेशन के दौरान पेश किए दस्तावेजों से कई खुलासे हुए हैं। दस्तावेजों के मुताबिक, वैक्सीन कितनी सुरक्षित है, इसे जानने के लिए पूरी क्लीनिकल स्टडी हुई ही नहीं।


डेली मेल की खबर के मुताबिक, ट्रायल के नाम पर 42 दिन में मात्र 38 वॉलंटियर्स को वैक्सीन की डोज दी गई। ट्रायल के तीसरे चरण पर भी कोई जानकारी सामने नहीं आई है। रूसी सरकार का दावा था कि वैक्सीन के कोई साइड इफेक्ट नहीं दिखे, जबकि दस्तावेज बताते हैं कि 38 वॉलंटियर्स में 144 तरह के साइड इफेक्ट देखे गए हैं। ट्रायल के 42 वें दिन भी 38 में से 31 वॉलंटियर्स इन साइडइफेक्ट से जूझते दिखे। वॉलंटियर्स को डोज लेने के बाद कई तरह दिक्कतें हुईं। पिछले कई दिनों से विश्व स्वास्थ्य संगठन भी इस वैक्सीन पर सवाल उठा रहा है।


वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन का कहना है कि रूस ने वैक्सीन बनाने के लिए तय दिशानिर्देशों का पालन नहीं किया, ऐसे में इस वैक्सीन की सफलता पर भरोसा करना मुश्किल है।


पहला दावा : रशिया के रक्षा मंत्रालय के मुताबिक, वैक्सीन ट्रायल के जो नतीजे सामने आए हैं, उनमें बेहतर इम्युनिटी विकसित होने के प्रमाण मिले हैं। किसी वॉलंटियर में निगेटिव साइड इफेक्ट नहीं देखने को मिले।


सच्चाई: दस्तावेजों के मुताबिक, जिन वालंटियर्स को वैक्सीन दी गई, उनमें बुखार, शरीर में दर्द, शरीर का तापमान बढ़ना, जहां इंजेक्शन लगा, वहां खुजली होना और सूजन जैसे साइड इफेक्ट दिखे। इसके अलावा शरीर में ऊर्जा महसूस न होना, भूख न लगना, सिरदर्द, डायरिया, गले में सूजन, नाक का बहना जैसे साइड इफेक्ट कॉमन थे।जब वैक्सीन की पहली डोज पुतिन की बेटी को दी गई तो शरीर का तापमान पहले एक डिग्री बढ़ा फिर कम हुआ। लेकिन, राष्ट्रपति पुतिन ने दावा किया कि मेरी बेटी के शरीर में एंटीबॉडीज बढ़ी हैं।


दूसरा दावा : रूस के रक्षा मंत्रालय ने कहा, हम वैक्सीन तैयार करने में दूसरों से कई महीने आगे चल रहे हैं। इसी महीने में बड़े स्तर पर तीन और ट्रायल किए जाएंगे। फिर रजिस्ट्रेशन के बाद राष्ट्रपति पुतिन ने कहा कि वैक्सीन से जुड़े सभी जरूरी ट्रायल पूरे हो गए हैं।


सच्चाई: रूस ने अब तक वैक्सीन के जितने भी ट्रायल किए हैं, उससे जुड़ा साइंटिफिक डाटा पेश नहीं किया। तीसरे चरण का ट्रायल किया है या नहीं, इस पर भी संशय है। WHO ने रूस द्वारा बनाई गई कोरोना की वैक्सीन को लेकर कई तरह की शंकाएं जताई हैं। संगठन के प्रवक्ता क्रिस्टियन लिंडमियर ने प्रेस ब्रीफिंग के दौरान कहा कि अगर किसी वैक्सीन का तीसरे चरण का ट्रायल किए बगैर ही उसके उत्पादन के लिए लाइसेंस जारी कर दिया जाता है, तो इसे खतरनाक मानना ही पड़ेगा। दस्तावेज भी कहते हैं, जो भी ट्रायल हुए हैं वो मात्र 42 दिन के अंदर पूरे हो गए हैं।              


उद्घाटन से पहले बारिश में बह गया पुल

मनोज सिंह ठाकुर 


पटना। बिहार अपने कुशासन के लिए पूरे देश में कुख्यात है। अब फिर से बिहार एक घटना के चलते चर्चा में है। यहां सीएम के उद्घाटन से पहले ही एक पुल नदी में बह गया।









बिहार में फिर एक पुल नदी में बह गया है। खास बात ये है कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार इस पुल का आज ही उद्घाटन करने वाले थे। इससे पहले पिछले महीने की 15 तारीख को गोपालगंज के सत्तरघाट पुल का अप्रोच उद्घाटन के कुछ ही दिनों में टूट गया जिसके बाद राज्य सरकार की काफी छीछालेदर हुई थी। खास बात ये है कि पिछला पुल मुख्यमंत्री के उद्घाटन के बाद बह गया था तो इस बार मुख्यमंत्री के उद्घाटन के पहले ही पुल बह गया।








मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को छपरा में बंगरा घाट मेगा ब्रिज का उद्घाटन वीडियो कांफ्रेंसिंग से करना था लेकिन ये पुल उद्घाटन से पहले ही बह गया। गौरतलब है कि बिहार में विधानसभा चुनाव सिर पर है। इसको देखते हुए सरकार ताबड़तोड़ उद्घाटन समारोह करने में जुटी है। उसी कड़ी में इस पुल का भी उद्घाटन मुख्यमंत्री को करना था लेकिन उनके उद्घाटन करने के पहले ही पुल भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ गया।           


कंटेनमेंट जोन में सब की जांच होनी चाहिए

लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बृहस्पतिवार को कहा कि प्रयास किए जाने चाहिए कि निषिद्ध क्षेत्रों में सभी लोगों की कोविड जांच हो, तभी ऐसे क्षेत्र बनाने का उद्देश्य पूरा होगा।  उन्होंने घरों में पृथकवास में रहने वाले कोविड-19 मरीजों से नियमित संवाद के जरिए उनके स्वास्थ्य की जानकारी प्राप्त करते रहने के निर्देश भी दिए हैं। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ यहां एक उच्चस्तरीय बैठक में अनलॉक व्यवस्था की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने संक्रमित लोगों के संपर्क में आए लोगों का पता लगाने (कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग) के कार्य में तेजी लाने पर बल देते हुये कहा कि इसके माध्यम से बीमारी के प्रसार को नियंत्रित करने में मदद मिल रही है। मुख्यमंत्री ने कोविड-19 के प्रसार को नियंत्रित करने के लिए कोविड अस्पतालों में डॉक्टरों की संख्या में वृद्धि करने के भी निर्देश दिए हैं। 


उन्होंने कहा कि कानपुर नगर, लखनऊ तथा वाराणसी के कोविड चिकित्सालयों में बिस्तरों की संख्या बढ़ाई जाए तथा लखनऊ के कैंसर संस्थान में कोविड चिकित्सालय स्थापित किए जाएं। उन्होंने स्वास्थ्य विभाग को प्रत्येक जनपद में एल-2 कोविड चिकित्सालयों में बिस्तरों की संख्या को बढ़ाने के निर्देश दिए हैं। योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश के सभी जनपदों में खाद की पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित करने के निर्देश देते हुए कहा कि किसानों के लिए कृषि सम्बन्धी अन्य सामग्री की भी सुचारु व्यवस्था कायम रखी जाए। उन्होंने पिछले दिन कुछ क्षेत्रों में उपभोक्ताओं की विद्युत आपूर्ति बाधित होने के प्रकरण की जांच एसटीएफ से कराए जाने के निर्देश देते हुए कहा कि दोषी पाए जाने वाले लोगों के विरुद्ध सख्त कार्रवाई की जाए।             


पूर्व राष्ट्रपति की हालत में नहीं कोई सुधार

नई दिल्ली। पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की तबीयत में आज भी कोई सुधार देखने को नहीं मिला है। प्रणब मुखर्जी कोमा में हैं, मगर उनकी हालत स्थिर बनी हुई है। वह आर्मी रिसर्च एंड रेफरल अस्पताल में वेंटिलेटर सपोर्ट पर हैं। अस्पताल के अधिकारियों ने कहा, “प्रणब मुखर्जी की हालत आज सुबह भी वैसी ही है। उनकी हालत स्थिर है और वह वेंटिलेटर सपोर्ट पर हैं।” भारत के 13वें राष्ट्रपति मुखर्जी कोविड -19 पॉजीटिव भी पाए गए थे। वहीं मुखर्जी की स्वास्थ्य स्थिति के बारे में सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर फर्जी खबरें सामने आने के बाद अस्पताल के अधिकारियों ने एक बयान जारी किया है।


पूर्व राष्ट्रपति के बेटे अभिजीत मुखर्जी ने पिता के बिगड़ते स्वास्थ्य के बारे में अटकलों का खंडन करते हुए कहा कि उनके पिता जीवित हैं। उन्होंने ट्वीट किया, “मेरे पिता श्री प्रणव मुखर्जी अभी भी जीवित हैं और हेमोडायनामिक रूप से उनकी हालत स्थिर हैं। प्रतिष्ठित पत्रकारों द्वारा सोशल मीडिया पर प्रसारित की जा रही अटकलों और फर्जी खबरों से साफ जाहिर होता है कि भारत में मीडिया फेक न्यूज का कारखाना बन गया है।” वहीं मुखर्जी की बेटी व कांग्रेस की कार्यकर्ता शर्मिष्ठा मुखर्जी ने भी अपने पिता के बारे में अफवाहों का खंडन किया।            


निषाद ने राज्यसभा के लिए पर्चा भरा

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में राज्यसभा सीट के उपचुनाव के लिये भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) जय प्रकाश निषाद ने गुरूवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की मौजूदगी में नामांकन पत्र दाखिल किया। समाजवादी पार्टी (सपा) नेता बेनी प्रसाद वर्मा के पिछली 27 मार्च को निधन के बाद यह सीट रिक्त हुयी थी।वर्मा का निधन लंबी बीमारी के बाद हो गया था। उनका कार्यकाल चार जुलाई 2022 तक का था। देवरिया में 10 जून 1972 को जन्मे निषाद गोरखपुर क्षेत्र में भाजपा के उपाध्यक्ष है। उत्तर प्रदेश विधानसभा में भाजपा की मजबूत स्थिति के चलते भाजपा प्रत्याशी का निर्विरोध जीतना तय है। आज नामाकंन की आखिरी तारीख है। कल नामांकन पत्रों की जांच की जायेगी वहीं 17 अगस्त तक नाम वापस लिये जा सकते हैं।


नियम के अनुसार यदि कोई नामांकन नहीं करता है तो जयप्रकाश निषाद को निर्विरोध निर्वाचित कर दिया जायेगा। जयप्रकाश निषाद 2012 के विधान सभा चुनाव में बसपा के टिकट चौरी-चौरा विधान सभा से निर्वाचित हुये थे। 2017 में भी उन्होंने चौरी चौरा से विधानसभा से चुनाव लड़ा लेकिन भाजपा प्रत्याशी से हार गए।


वह 2008 से 2009 तक बहुजन समाज पार्टी की सरकार में राज्य मंत्री रह चुके है। उन्होंने फरवरी 2018 में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की एक सभा मे भारतीय जनता पार्टी की सदस्यता ग्रहण की थी। वे इस समय भारतीय जनता पार्टी के गोरखपुर क्षेत्र के क्षेत्रीय उपाध्यक्ष है। उन्हें हाल ही में पूर्वांचल विकास बोर्ड का सदस्य नियुक्त किया गया है।जयप्रकाश निषाद को पार्टी ने पिछले मंगलवार को राज्‍यसभा के लिए अपना उम्‍मीदवार घोषित किया तो वह सबसे पहले मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ का आशीर्वाद लेने गोरखनाथ मंदिर पहुंचे थे। आज उनके पर्चा दाखिल करने के दौरान भी मुख्‍यमंत्री मौजूद रहे।            


सीएम योगी ने अच्छे इलाज के निर्देश दिए

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र के अध्यक्ष महंत नृत्य गोपालदास के कोविड संक्रमित होने की जानकारी मिलने पर उनके उपचार के लिए सभी प्रबन्ध सुनिश्चित करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने महंत नृत्य गोपालदास जी के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना की है। मुख्यमंत्री ने जिलाधिकारी मथुरा तथा महंत नृत्य गोपालदास जी के अनुयायियों से वार्ता कर उनके स्वास्थ्य की स्थिति की जानकारी प्राप्त की। उन्होंने जिलाधिकारी मथुरा को निर्देशित किया कि महंत नृत्य गोपालदास जी के बेहतर उपचार के लिए हर सम्भव प्रबन्ध किए जाएं। मुख्यमंत्री जी ने मेदांता हाॅस्पिटल के चेयरमैन नरेश त्रेहन से वार्ता कर महंत नृत्य गोपालदास जी का मेदांता हाॅस्पिटल में उपचार कराने का अनुरोध किया है।


साजिशः लाल किले पर खालिस्तान का झंडा

विकास जाटव


नई दिल्ली। स्वतंत्रता दिवस यानी 15 अगस्त को लेकर इंटीलिजेंस ब्यूरो (आईबी) ने बड़ा अलर्ट जारी किया गया है। अलर्ट में कहा गया है कि अमेरिका में रहने वाले सिख फॉर जस्टिस के आकाओं में से एक गुरुवतपंत सिंह पन्नू ने 14, 15 और 16 अगस्त को लाल किले पर खालिस्तान का झंडा फहराने वाले सिख को सवा लाख डालर देने की घोषणा की है।


खालिस्तानी आतंकी संगठन सिख फॉर जस्टिस के आतंकी गुरुवतपंत सिंह पन्नू ने एक वीडियो जारी किया है। हाल ही में गुरुवतपंत सिंह पन्नू को भारत सरकार से डिजिनेटेड टेरररिस्ट करार दिया गया। गुरुवतपंत सिंह पन्नू ने ऐलान किया है कि जो 15 अगस्त को खालिस्तान का झंडा लाल किले पर फहराएगा, उसे 5 लाख दिया जाएगा।


पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई के साथ मिलकर गुरुवतपंत सिंह पन्नू रेफरेंडम 2020 की मुहिम भी चला रहा है। इस वीडियो के बाद जांच एजेंसियां अलर्ट पर हैं। आपको बता दें कि रेफरेंडम 2020 को लेकर लगातार दिल्ली, पंजाब और हरियाणा में लोगों को गुरुवतपंत सिंह पन्नू का ऑटोमेटिक कॉल्स आ रहा है, जिसकी जांच एनआईए कर रही है।


हाल ही में एक वीडियो आतंकी गुरुवतपंत सिंह पन्नू ने जारी किया था, जिसमें दिल्ली को खालिस्तान बनाने की बात कही गई थी, लेकिन 15 अगस्त पर लाल किले पर झंडा फहराने वाले इस वीडियो के बाद लाल किले के आस-पास खुफिया एजेंसियां सक्रिय हैं। आईबी के अलर्ट के बाद लाल किला और आसपास भारी सुरक्षा बढ़ाई गई है।               


कश्मीर में लश्कर के ठिकानों का भंडाफोड़

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर पुलिस ने दक्षिण कश्मीर के पुलवामा जिले में आतंकवादी संगठन लश्कर-ए-तैयबा के दो ठिकानों का भंडाफोड़ कर भारी मात्रा में हथियार और गोला-बारूद बरामद किया है। पुलिस के अधिकारियों ने इस बात की सूचना दी है। अवंतीपोरा के बदरु बारसू के जंगली इलाकों में आतंकियों के मौजूद होने की विश्वसनीय सूचना मिलने के बाद सेना और सीआरपीएफ के साथ पुलिस ने बुधवार देर रात तलाशी अभियान की शुरूआत की। पुलिस ने कहा, “गुरुवार तड़के दो ठिकाने ध्वस्त कर दिए गए। ” तलाशी अभियान के दौरान भारी मात्रा में विस्फोटक के साथ गोले-बारूद बरामद किए गए हैं, जिनमें एक एके-47 राइफल, दो हैंड ग्रेनेड, एक यूबीजीएल थ्रोअर, चार यूबीजीएल ग्रेनेड और कुछ मात्रा में अमोनियम नाइट्रेट भी शामिल है। फिलहाल मामला दर्ज कर लिया गया है और आगे की जांच जारी है।            


केंद्र स्वास्थ्य ढांचे को कर रहा है मजबूत

नई दिल्ली। केंद्र ने गुरुवार को कहा कि इसने पिछले पांच महीनों में राज्यों, केंद्र शासित प्रदेशों और केंद्रीय संस्थानों को 3.04 करोड़ से अधिक एन 95 मास्क और 1.28 करोड़ से अधिक पीपीई किट मु्फ्त में वितरित किए हैं। इसके साथ ही ‘मेक इन इंडिया’ के तहत बने 22,000 से अधिक वेंटिलेटर्स भी उपलब्ध कराए गए हैं। महामारी से लड़ने और प्रभावी ढंग से इसका प्रबंधन करने के लिए केंद्र स्वास्थ्य ढांचे को मजबूत कर रहा है। कोविड-19 के इलाज के लिए सुविधाओं का प्रसार करने के साथ ही सरकार द्वारा राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को उनके प्रयासों को अंजाम देने के लिए चिकित्सा से संबंधित चीजों की आपूर्ति मुफ्त में कराई जारी रही है।


सरकार ने कहा, “11 मार्च, 2020 से केंद्र सरकार ने राज्यों, केंद्र शासित प्रदेशों और केंद्रीय संस्थानों को मुफ्त में 3.04 करोड़ से अधिक एन 95 मास्क और 1.28 करोड़ से अधिक पीपीई किट उपलब्ध कराए हैं। साथ ही 10.83 करोड़ से अधिक हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन की गोलियां भी प्रदान की है। इसके अलावा, ‘मेक इन इंडिया’ के तहत बने वेंटिलेटर्स भी दिए गए हैं और उन्हें लगाने व चालू करने की व्यवस्था भी सुनिश्चित की गई है।” सरकार ने आगे कहा, “भारत सरकार द्वारा आपूर्ति की जा रही इन चीजों में से अधिकतर का निर्माण पहले देश में नहीं किया जाता था। महामारी के कारण बढ़ती वैश्विक मांग के चलते इनकी उपलब्धता में कठिनाई आने लगीं।” नतीजे के तौर पर, ‘आत्मनिर्भर भारत’ और ‘मेक इन इंडिया’ के संकल्प को मजबूत किया गया और केंद्र सरकार द्वारा आपूर्ति कराए जा रहे इन चीजों में से अधिकतर का निर्माण घरेलू स्तर पर किया जाने लगा। इस अवधि के दौरान स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय, कपड़ा मंत्रालय और फार्मास्यूटिकल्स मंत्रालय, उद्योग और आंतरिक व्यापार संवर्धन विभाग, रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन व अन्यों के सहयोग से घरेलू उद्योग को आवश्यक चिकित्सा उपकरण जैसे कि पीपीई, एन 95 मास्क, वेंटिलेटर इत्यादि के निर्माण व आपूर्ति के लिए प्रोत्साहित किया गया।           


दिल्ली-एनसीआर में बारिश, जलजमाव, जाम

अकांशु उपाध्याय


नई दिल्ली। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में रातभर बारिश के बाद बृहस्पतिवार सुबह भी बारिश जारी रही, जिससे शहर के कई हिस्सों में पानी भर गया, जिसके चलते कई जगहों पर ट्रैफिक जाम की स्थिति देखने को मिली। भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने आज भी बारिश जारी रहने का पूर्वानुमान व्यक्त किया है। IMD के अनुसार, सुबह साढ़े पांच बजे तक पालम वेधशाला में 86 और सफदरजंग मौसम केन्द्र में 42.4 मिमी बारिश दर्ज की गई। IMD के अनुसार, बुधवार शाम तक शहर में अगस्त में होने वाली बारिश की तुलना में इस साल अब तक 72 प्रतिशत कम बारिश हुई थी। पिछले 10 साल में यह सबसे कम बारिश है.


IMD के क्षेत्रीय पूर्वानुमान केन्द्र के प्रमुख कुलदीप श्रीवास्तव ने बताया कि शहर में रात भर बारिश जारी रही और आज दिन में भी बारिश होने की संभावना है। उन्होंने बताया कि मॉनसून की अक्षरेखा दिल्ली-एनसीआर के करीब बनी हुई है। इसके अलावा, दक्षिण-पश्चिम उत्तर प्रदेश पर एक चक्रवाती परिसंचरण है। अरब सागर से उठी दक्षिण-पूर्वी हवाओं और बंगाल की खाड़ी से आने वाली पूर्वी हवाओं से आर्द्रता बनी है। उन्होंने बताया कि अगले दो-तीन दिनों तक हल्की बारिश जारी रहेगी. इससे पहले IMD ने मंगलवार से बृहस्पतिवार के बीच एक-दो बार भारी बारिश होने का पूर्वानुमान व्यक्त किया था।


विकास के लिए पर्यावरण की बलि अनुचित

नई दिल्ली। केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार द्वारा लाए गए पयार्वरण प्रभाव आकलन 2020 ड्राफ्ट  (ईआईए 2020 ) की हर ओर आलोचना हो रही है। विपक्षी पार्टियों से लेकर पयार्वरण का मुद्दा उठाने वाले सामाजिक कार्यकर्ता भी इसका विरोध कर रहे हैं। अब कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने भी इस मसले पर एक लेख लिखा है, जिसमें उन्होंने मोदी सरकार की इस नीति की कड़ी आलोचना की है।


सोनिया गांधी ने कहा कि नई पयार्वरण नीति से पूंजीपतियों को विकास के नाम पर पयार्वरण को हानि पहुंचाने का वैधानिक मौका मिल जाएगा और पयार्वरण संरक्षण की बजाय देश में प्रदूषण फैलाने की नई परम्परा की शुरुआत होगी।


अंग्रेजी के एक समाचार पत्र में इस संबंध में छपे अपने लेख के द्वारा सरकार को घेरते हुए कहा कि उसे मालूम होना चाहिए कि हमारा देश जैव विविधता का भंडार है और इसकी सुरक्षा हम सबका दायित्व है। कोरोना महामारी के दौरान सरकार को पयार्वरण की रक्षा के लिए काम करना चाहिए था मगर इस दिशा में अच्छे कदम उठाने की बजाय सरकार पयार्वरण को नुकसान पहुंचाने वाली नीति का प्रस्ताव लेकर आई है।


सोनिया गांधी ने अपने लेख में लिखा कि प्रकृति की रक्षा सबका फर्ज है । देश और दुनिया कोरोना महामारी का जो संकट झेल रही है वह हमारे लिए एक नई सीख है और इससे सबक लेते हुए हमें पयार्वरण की रक्षा के लिए काम करना चाहिए। उन्होंने कहा कि विकास की दौड़ अच्छी है लेकिन इसके लिए पयार्वरण की बलि नहीं दी जा सकती। विकास के लिए प्रकृति दोहन की भी एक सीमा तय की जानी चाहिए। इसमें सरकार की गलत नीतियों के कारण पयार्वरण रक्षा में हम दुनिया से काफी पीछे छूट गए हैं।


उन्होंने कहा कि सरकार को पयार्वरण के बिगड़ते संतुलन की अनदेखी नहीं करनी चाहिए और इसकी सुरक्षा के उपाय करने चाहिए। इसके लिए सबसे पहले यह घातक प्रस्ताव वापस लिया जाना चाहिए। गौरतलब है कि सरकार जिस ईआईए को लागू करने जा रही है, उसके तहत विकास कार्यों के लिए पयार्वरण मंजूरी लेने की जरूरत नहीं है।             


कांग्रेस ने रमन के खिलाफ चलाया अभियान

रायपुर। पूर्व मुख्यमंत्री डॉक्टर रमन सिंह के खिलाफ कांग्रेस ने घेराबंदी तेज कर दी है। आय से अधिक संपत्ति के मामले में पीएमओ में शिकायत के बाद अब सोशल मीडिया पर भी रमन के खिलाफ कांग्रेस ने विशेष अभियान शुरू किया है।
घोटालों के महानायक नाम से शुरू सोशल मीडिया अभियान में कांग्रेसी के नेता रमन सिंह से संपत्ति के बारे में जवाब मांग रहे हैं। कांग्रेसियों का कहना है कि रमन सिंह के पास ऐसा कौन सा पारस पत्थर था, जो बिना काम के मुनाफा बढ़ाता गया। कांग्रेस के आरोपों की बौछार के बीच रमन सिंह को खुद अपने बचाव में उतरना पड़ा है। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय से लेकर नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक सहित अन्य भाजपा नेताओं ने इसे कांग्रेस पर अपना भ्रष्टाचार छिपाने का अभियान करार दिया है। बघेल सरकार में मंत्री डॉ. शिव डहरिया ने ट्वीट किया-15 साल के भाजपा के कार्यकाल में हर धांधली, हर कमीशनखोरी और हर दलाली के लिए रमन सिंह जवाब दें। छत्तीसगढ़ कांग्रेस ने ट्वीट किया-कौन सा सूत्र है, जो संपत्ति 10 गुना बढ़ा देता है। रमन सिंह, जनता को भी बता दीजिए। रमन की कुर्सी उगलती रही सोना-चांदी, क्या इसी कारण कर दी छत्तीसगढ़ की बर्बादी कांग्रेस मीडिया विभाग के चेयरमैन शैलेश नितिन त्रिवेदी ने सोशल मीडिया पर एक पोस्टर जारी किया। इसमें रमन सिंह की संपत्ति का ब्यौरा दिया है। त्रिवेदी ने आरोप लगाया कि वर्ष 2012-13 में आयकर रिटर्न भरते समय रमन ने अपनी आय 14 लाख 60 हजार और अपनी पत्नी की आय 12 लाख 52 हजार बताई थी। युवक कांग्रेस ने ट्वीट किया-एक वक्त तक अपने आप को कर्ज में डूबा बताने वाले रमन सिंह जरा बताएं कि ऐसा क्या किया जो देनदारी 2018 में न के बराबर हो गई। रमन सिंह, वीणा सिंह और अभिषेक सिंह की संपत्ति की जांच हो।
माल्या की तरह रमन की फाइल हो सकती है गुम: मरकाम
प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम ने घोटालों की फाइल चोरी होने पर मोदी सरकार को घेरा है। मरकाम ने कहा कि मोदी है तो मुमकिन है की व्यवस्था के तहत मेडिकल स्टोर्स के पते वाले अभिषाक सिंह के भ्रष्टाचार की फाइल भी चोरी हो जाए। पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह के भ्रष्टाचार को कब तक प्रदेश भाजपा अध्यक्ष विष्णुदेव साय और नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ढकते रहेंगे। मरकाम ने आरोप लगाया कि रमन सरकार के 15 तक साल कमीशनखोरी, भ्रष्टाचार को ढकने के लिए आरएसएस और भाजपा ने लीपापोती की है। रमन के कमीशनखोरी, भ्रष्टाचार में भागीदार रहे भाजपा नेता ही उनका बचाव कर रहे। कारोबारी विजय माल्या की तरह रमन सिंह की फाइल भी गुम हो सकती है।


करदाताओं को मिलें 3 बड़े अधिकार

अकाशुं उपाध्याय


नई दिल्ली। पीएम नरेंद्र मोदी ने आज करदाताओं को लिए तीन बड़े अधिकार दिए हैं। वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए ‘पारदर्शी कराधान – ईमानदार का सम्मान’ के लिए प्‍लेटफॉर्म लॉन्च किया। इस नए टेक्स प्लेटफार्म के तहत टैक्सपेयर्स को फेसलेस असेसमेंट, टैक्स पेयर्स चार्टर, फेसलेस अपील की सुविधा मिलेगी। साथ ही अब टैक्स देने में आसानी होगी, टेक्नोलॉजी की सहायता से लोगों पर भरोसा जताया जाएगा। इस आयोजन में केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण और वित्त राज्य मंत्री अनुराााग सिंह ठाकुर के अलावा इनकम टैक्स विभाग के अधिकारियों एवं पदाधिकारियों के लावा विभिन्न वाणिज्य मंडलों, व्यापार संघों एवं चार्टर्ड एकाउंटेंट संघों के साथ-साथ जाने-माने टैक्सपेयर्स भी मौजूद थे।पीएम ने कहा कि इस प्लेटफॉर्म में फेसलेस एसेसमेंट फेसलेस अपील और टैक्सपेयर चार्ट जैसे बड़े रिफॉर्म्स हैं। फेसलेस एसेसमेंट और टैक्सपेयर चार्ट आज से लागू हो गए हैं। नई सुविधाएं, मिनिमम गवर्नमेंट मैक्सिमम गवर्नेंस के प्रति हमारी प्रतिबद्धता को और मजबूत करती हैं। ये देशवासियों के जीवन से सरकार को, सरकार के दखल को कम करने की दिशा में भी एक बड़ा कदम है। आज हर नियम-कानून को, हर पॉलिसी को प्रोसेस और पावर सेंट्रिक अप्रोच से बाहर निकालकर उसको पीपल सेंट्रिक और पब्लिक फ्रेंडली बनाने पर बल दिया जा रहा है। ये नए भारत के नए गवर्नेंस मॉडल का प्रयोग है और इसके सुखद परिणाम भी देश को मिल रहे हैं।


कैबिनेट मीटिंग में 13 प्रस्तावों पर मुहर

पंकज कपूर


देहरादून। उत्तराखंड में मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत की अध्क्षता में सचिवालय मैं कैबिनेट बैठक हुई। कैबिनेट बैठक में 14 प्रस्तावों पर चर्चा हुई, जिनमें से एक प्रस्ताव को अगली कैबिनेट के लिए प्रस्तावित कर दिया गया।


जाने महत्वपूर्ण फैसले..



  • मुख्य न्यायाधीश के सेवक भत्ते में 10,000 से बढ़ाकर किया गया 15000

  • न्यायाधीश के सेवक भत्ते को बढ़ाकर 12000 किया गया है।

  • हेमवती नंदन चिकित्सा विश्वविद्यालय की नियमावली में किया गया संशोधन कुलपति की कॉल सीमा की गई 70 वर्ष

  • ज़मीदारी उन्मूलन के लिए सरकार लाई अध्यादेश।जमीन को 143 कराने की आवश्यकता नही।

  • देहरादून में वर्ग 4 की भूमि पर सरकार लाई संशोधन प्रस्ताव। जौनसार भाबर को भी प्रदेश के दूसरे जगहों के अनुसार किया गया।

  • ऋषिकेश एम्स के पास 1.43हेक्टेयर जमीन न्यास को दी जाएगी। भाउराव देवरस निराज निराला नगर लखनऊ। को भारत सरकार लेगी फैसला।

  • उत्तराखंड विधानसभा का 23, 24 ,25 सितंबर को सत्र देहरादून में किया जाएगा आहूत कैबिनेट ने निर्णय लिया

  • जमरानी बांध को लेकर कैबिनेट ने लिया निर्णय सिंचाई को लेकर किया जाएगा समझौता


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

यूनिवर्सल एक्सप्रेस   (हिंदी-दैनिक)


 अगस्त 14, 2020, RNI.No.UPHIN/2014/57254


1. अंक-365 (साल-01)
2. शुक्रवार, अगस्त 14, 2020
3. शक-1943, भाद्रपद, कृष्ण-पक्ष, तिथि- दसवीं, विक्रमी संवत 2077।


4. सूर्योदय प्रातः 05:19, सूर्यास्त 07:15


5. न्‍यूनतम तापमान 23+ डी.सै.,अधिकतम-35+ डी.सै.। आद्रता बनी रहेगी।


6.समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है।
7. स्वामी, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहींं है।


8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102।


9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.,201102


www.universalexpress.in


https://universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
संपर्क सूत्र :-935030275


(सर्वाधिकार सुरक्षित)                     


अभियान, सैकड़ों अरब डॉलर की परियोजनाएं: मंजूर

वाशिंगटन डीसी। दुनिया के सबसे संपन्न सात देशों (जी 7) के शिखर सम्मेलन में शनिवार को चीन मुख्य मुद्दा रहा। चीन की विस्तारवादी नीतियों के खिला...