बुधवार, 29 अप्रैल 2020

इंडोनेशियाः बिना लक्षण, 2200 की मौत

जकार्ता। इंडोनेशिया में ऐसे 2200 से ज्यादा लोगों की मौत हुई है जिनमें कोविड-19 के स्पष्ट लक्षण पाए गए थे, लेकिन उन्हें इस बीमारी से ग्रसित घोषित नहीं किया गया। अलजजीरा की एक रिपोर्ट के मुताबिक देश के 34 प्रांतों में से 16 प्रांतों के डाटा के अध्ययन में यह बात सामने आई है। 

इंडोनेशिया उन देशों में है जहां कोरोना जांच की रफ्तार सबसे धीमी है। महामारी विज्ञानियों का कहना है कि ऐसी स्थिति में दुनिया के चौथे सबसे ज्यादा आबादी वाले देश में असल स्थिति का अंदाजा लगाना कठिन हो गया है। विशेषज्ञों का मानना है स्थिति आंकड़ों की तुलना में कहीं खराब है।


ब्राजील में 5,000 से अधिक मौतें

ब्रासीलिया। स्वास्थ्य मंत्रालय ने मंगलवार को घोषणा की कि कोरोना वायरस महामारी से सबसे ज्यादा प्रभावित दक्षिण अमेरिकी देश ब्राजील में COVID-19 से 5,000 से अधिक लोगों की मौत हो गई है। मंत्रालय ने कहा कि पिछले 24 घंटों में 474 मौतें दर्ज की गईं। जहां संक्रमण मामलों की कुल संख्या 71,886 हो गई है। ब्राजील में महामारी से मरने वालों की कुल संख्या चीन से भी अधिक हो गई है, जहां से दुनियाभर में यह वायरस फैल था।


दक्षिणपंथी राष्ट्रपति जायर बोलोनसरो नियमित रूप से राज्य के राज्यपालों द्वारा बीमारी के प्रसार को धीमा करने के लिए लगाए गए प्रतिबंधों के साथ अपनी अधीरता व्यक्त कर रहे हैं और अर्थव्यवस्था की गतिविधि को फिर से शुरू करने के लिए कड़ी मेहनत कर रहे हैं। साओ पाउलो, जो देश के एक तिहाई मामलों में सबसे प्रभावित राज्य है, यहां 11 मई से धीरे-धीरे आर्थिक गतिविधियों को फिर से शुरू करने की योजना है। रियो डी जनेरियो और दक्षिण-पूर्वी मिनस गेरैस राज्य इसी तरह के फैसले पर विचार कर रहे हैं, जबकि ब्रासीलिया और दक्षिणी सांता कैटरीना राज्य के संघीय जिले में कुछ गतिविधियों को फिर से शुरू कर दिया गया है।


संक्रमित 31,787 मृतक संख्या-1008

नई दिल्ली। देशभर में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या में लगातार बढ़ोतरी हो रही है। केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक, पिछले 24 घंटे में 1813 नए मामले सामने आए हैं और 71 लोगों की मौत हो गई है, जो अब तक एक दिन में मौतों का सर्वाधिक आंकड़ा है। इसके बाद देशभर में कोरोना पॉजिटिव मामलों की कुल संख्या 31,787 हो गई है, जिसमें 22, 982 सक्रिय हैं, 7797 लोग स्वस्थ हो चुके हैं या उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है और 1008 लोगों की मौत हो चुकी है।


दुनिया-भर में 2 लाख 18 हजार लोगों की मौत हों गई हैं।उत्तर-प्रदेश में 3 नए केस, बिहार में 403 नए केस, महाराष्ट्र में 475 नए केस, झारखंड में 2 नए केस सामने आए हैं।


इंडोनेशिया ने भारत की सराहना की

जकार्ता। प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने इंडोनेशिया के राष्ट्रपति महामहिम जोको विडोडो के साथ टेलीफोन पर बातचीत की। दोनों राजनेताओं ने इस क्षेत्र के साथ-साथ पूरी दुनिया में कोविड-19 महामारी के फैलाव के बारे में अपने-अपने विचारों का आदान-प्रदान किया।


इंंडोनेशिया के राष्ट्रपति ने इंडोनेशिया को दवा उत्पादों की आपूर्ति के लिए भारत सरकार द्वारा दी गई सुविधा की सराहना की। प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने उन्हें आश्वासन दिया कि भारत चिकित्सा उत्पादों या दोनों देशों के बीच व्यापार की जाने वाली अन्य वस्तुओं की आपूर्ति में किसी भी तरह के व्यवधान को रोकने के लिए अपनी ओर से भरसक कोशिश करेगा। दोनों राजनेताओं ने एक दूसरे के यहां मौजूद अपने-अपने नागरिकों से संबंधित मुद्दों पर चर्चा की और इस बात पर सहमति जताई कि उनकी टीमें इस संबंध में हरसंभव सुविधा सुनिश्चित करने के लिए आपस में निरंतर संपर्क में रहेंगी।PM मोदी ने इस तथ्य को रेखांकित किया कि इंडोनेशिया भारत के विस्तारित पड़ोस में एक महत्वपूर्ण समुद्री साझेदार है, और द्विपक्षीय संबंधों की मजबूती दोनों ही देशों को इस महामारी से लड़ने में मदद करेगी। प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने रमजान के पवित्र महीने के लिए राष्ट्रपति महामहिम विडोडो और इंडोनेशिया के मैत्रीपूर्ण लोगों को शुभकामनाएं भी दीं।


दिल्लीः 100 वां हॉटस्पॉट, बड़ा संक्रमण

नई दिल्ली। बहुचर्चित शाहीन बाग दिल्ली का सौंवा हॉटस्पॉट बन गया है। शाहीन बाग में यह दूसरा हॉटस्पॉट है और डी ब्लॉक को पूरी तरह से क्वॉरेंटाइन कर दिया गया है। देश की राजधानी दिल्ली में कोरोना के मरीजों का रिकवरी रेट हालांकि बहुत अच्छा है लेकिन इसके बावजूद मरीजों की संख्या में इजाफा हो रहा है। 32.5% के रिकवरी रेट के बावजूद मरीजों का लगातार बढ़ना चिंता का विषय बना हुआ है।


दिल्ली से लगे फरीदाबाद की आज सारी सीमाएं सील कर दी जाएंगी और 12 बजे के बाद दिल्ली से वहां काम पर जाने वाले डॉक्टरों तक को जाने नहीं दिया जाएगा। वहां केवल केंद्र सरकार द्वारा जारी पास ही चलेगा। दिल्ली में मरकज मामले की जांच कर कर रहे पुलिस वाले को भी पॉजिटिव पाया गया है। उसके बाद उस पूरी टीम के 15 लोगों को क्वारंटाइन कर दिया गया है। दिल्ली में ही सुरक्षा बल के एक कोरोना पीड़ित जवान ने दम तोड़ दिया है। और उसके बाद 1100 जवानों की बटालियन को सील कर दिया गया है। दिल्ली में तमाम प्रयास के बावजूद मरीजों की संख्या कम ना होना चिंता का विषय बना हुआ है।


मुखबधिर की सूचना पर छापा मारा

अतुल त्यागी, प्रवीण कुमार 


हापुड़। उत्तर प्रदेश के जनपद हापुड के सिटी कोतवाली छेत्र के पक्काबाग अनाज मंडी में देर रात एसडीएम सदर सहित पुलिस ने मुखबिर की सूचना पर मारा छापा। एसडीएम सहित भारी पुलिस फोर्स ने छापा मारकर चावल से भरे एक ट्रक को पकड़ा। राशन के चावल की कालाबाजारी करने की जताई जा रही है आशंका। खाद्य आपूर्ति अधिकारी मामले की जांच ने जुटे। आपको बता दें कि देर रात करीब 3 बजे एसडीएम सदर को मुखबिर द्वारा सूचना मिली के राशन के चावल से भरे ट्रक को लोड कर कहीं दूसरी जगह ले जाए जा रहा है जिस पर एसडीएम सदर ने पुलिस के साथ मौके पर पहुंचकर चावलों से भरे ट्रक को अपने कब्जे में ले लिया।  हालांकि चावल मालिक रात को चावल से सम्बंधित कोई कागज नही दिखा पाया। सुबह व्यापारियों ने इकट्ठा होकर अधिकारियों को बताया के  जिस फर्म से माल खरीदा है वह बिल दिखाने की बात कही। वहीं एसडीएम सदर का कहना है कि मामले की खाद्य पूर्ति अधिकारी द्वारा मामले की जांच की जा रही है।


प्रयागराजः डॉक्टर-समस्त स्टाफ सम्मानित

प्रयागराज। इलाहाबाद में मां शारदा हॉस्पिटल के डॉक्टर व समस्त स्टाफ को सम्मानित किया समाजसेवियों में 29 अप्रैल समाजवादी पार्टी के पूर्व महानगर अध्यक्ष एवं पूर्व पार्षद पप्पू लाल निषाद व कीडगंज से समाजसेवी महेश निषाद ने अपनी टीम के साथ दोपहर 2:00 बजे मां शारदा हॉस्पिटल  बहराना के डायरेक्टर आरके अग्रवाल तथा उनके सभी स्टाफ के लोगों को सालवा माला पहनाकर सम्मानित किया गया और उन्हें धन्यवाद दिया गया कि आप लोगों का लॉॉकडाउन मेें कोरोना महामारी से निपटने के लिए अपनी जान जोखिम में डालकर  जनता की सेवा कर रहे हैं।
स्वागत कार्यक्रम में प्रमुख रुप से पप्पू लाल निषाद जी महेश निषाद बृजेश केसरवानी राजेश यादव मोनू द्विवेदी श्यामू यादव रितेश जयसवाल संदीप सिंह त्रिलोकी राज सोनकर मोहम्मद वैस सागर पांडे संदीप श्रीवास्तव महेंद्र रुपेश निषाद बंटी यादव दिनेश प्रजापति आदि लोग उपस्थित थे।


रिपोर्ट- बृजेश केसरवानी


प्रशासन सख्त, मेंन बाजार में 'बेरिंग केटिंग'

शासन प्रशासन हुआ सख्त मेंन बाजार के रास्ते मे किया बैरिंग केटिंग


लॉकडाउन का उल्लंघन करने पर लोगों के खिलाफ लिखा जाएगा मुकदमा


फतेहपुर। कोरोना वाइरस संक्रमण वीमारी से बचाने के लिये पुलिस और प्रशासन लगातार प्रयासकर रहा है। लेकिन लोग मानने का नाम नही ले रही है। जनता के लायन का पालन ना करते हुए और सामाजिक दूरी ना बनाने को लेकर और लॉक डॉन का उल्लंघन करते इस समस्या को निजात दिलाने के लिए शासन प्रशासन बुधवार को सख्त हुआ और मेन बाजार के रास्ते बासबलियों द्वारा बैरिंग केटिंग कर सभी रास्ते सीज कर दिए हैं। मंगलवार को  जिलाधिकारी संजीव कुमार सिंह और पुलिस अधीक्षक प्रशांत कुमार ने  बिंदकी नगर का निरीक्षण करने के बाद कोरोना वायरस संक्रमण महामारी बीमारी के बचाव के लिए पुलिस और प्रशासन तथा नगर पालिका परिषद द्वारा लगातार प्रयासरत है लेकिन लोग लॉक डाउन का पालन न करने पर और सोशल डिटेंशन की दूरी न होने पर जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक ने पालिका को निर्देशित करते हुए कहा कि सामाजिक दूरी का ध्यान नहीं रखा जा रहा है। उसी को लेकर बुधवार को नगर पालिका परिषद ने शक्ति दिखाते हुए नगर के नेहरू इंटर कॉलेज रोड और रामलीला मैदान बजाजा गली गांधी चौराहा फाटक बाजार लंका रोड वह खजुहा चौराहा को वह मेन बाजार को बैरिकेडिंग कर पूरे बाजार को सीज कर दिया नगर पालिका परिषद के सफाई स्पेक्टर राजेंद्र सिंह ने बताया कि अधिकारियों के निर्देशन पर बैरिकेडिंग की गई है। अभी आधा दर्जन से अधिक और स्थानों में बैरिंग केटिंग की जाएगी कानून का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी जो भी सामाजिक दूरी का उल्लंघन करता पाया गया तो उसके खिलाफ मुकदमा दर्ज कर दिया जाएगा।


प्रशासन की मोजूदगी में 'ड्रोन कैमरा'

डीएम एसपी की मौजूदगी में चलाया गया ड्रोन कैमरा


दोनों अधिकारियों ने नगर में पैदल घूम कर लॉक डाउन का किया निरीक्षण


फतेहपुर। जिलाधिकारी तथा पुलिस अधीक्षक की मौजूदगी में नगर में ड्रोन कैमरा घुमाया गया लाडला उनकी स्थिति का जायजा लिया गया साथ ही सामाजिक दूरी भी देखी गई। दोनों अधिकारी लॉक डाउन की स्थिति तथा सामाजिक दूरी के बारे में जानकारी लेने के लिए पैदल घूमे साथ में भारी पुलिस बल मौजूद रहा।
कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव के लिए प्रशासन लगातार प्रयास कर रहा है। इसी के चलते जिला अधिकारी संजीव सिंह तथा पुलिस अधीक्षक प्रशांत वर्मा दूसरे दिन भी नगर पहुंचे उन्होंने अपने सामने ड्रोन कैमरा चलाया कर नगर के लाख डाउन की स्थिति देखी सामाजिक दूरी के बारे में भी जानकारी ली इतना ही नहीं दोनों अधिकारी साथ में एसडीएम प्रहलाद सिंह सीओ योगेंद्र सिंह मलिक नायब तहसीलदार विकास पांडे कोतवाली प्रभारी निरीक्षक नंदलाल सिंह सहित भारी पुलिस बल ने मिलकर नगर के तहसील रोड बजाजा गली फाटक बाजार किराना गली मुगलाही लंका रोड आदि का निरीक्षण किया। वहां पर लाख डाउन की स्थिति देखी और सामाजिक दूरी के बारे में भी जानकारी ली इतना ही नहीं दोनों अधिकारियों ने बेवजह घूम रहे तमाम लोगों को फटकार भी लगाई घरों के अंदर जाने को कहा इस संबंध में डीएम और एसपी ने कहा कि ड्रोन कैमरे से वीडियो और फोटो बनाए गए हैं, जो भी दोषी पाया जाएगा उसके खिलाफ लॉक डाउन उल्लंघन की कानूनी कार्रवाई की जाएगी।


ग्रामीण-पुलिस ने घायल को कराया भर्ती

अतुल त्यागी


हापुड़। जनपद हापुड़ के थाना बहादुरगढ़ क्षेत्र मैं देर रात को उस वक्त हड़कंप मच गया जब गोली लगने की सूचना गांव में आग की तरह फैल गई और मौके पर ग्रामीण इकट्ठा होकर पहुंच गए सूचना मिलते ही स्थानीय पुलिस भी मौके पर पहुंच गई घायल को कराया अस्पताल में भर्ती।


मामला थाना बहादुरगढ़ क्षेत्र के गांव बहादुरगढ़ के जंगल का है जहा कलुआ पुत्र वीर सिंह 45 वर्षीय अपने 14 वर्षीय बेटे के साथ खेत में बाइक से सवार होकर पानी लगाने गया था समय करीब रात्रि 10:30 बजे नकाबपोश बदमाश उनके पास खेत पर पहुंच गए पहले तो बदमाशों ने उनके साथ लूटपाट की उनके जेब में लगभग करीब ₹300, दो मोबाइल फोन और बाइक की चाबी छीन ली जब दोनों बाप बेटे ने इसका विरोध किया तो नकाबपोश बदमाशों ने उनके साथ मार पिटाई करनी शुरू कर दी। मार पिटाई शुरू होते ही बाप और बेटा मौके से भागने लगे जैसे ही भागे तभी बदमाशों ने एक गोली कलुआ पुत्र वीर सिंह चौहान को मार दी जिससे वह मौके पर ही गिर गया और बदमाश मौके से फरार हो गए तभी बदमाशों के चंगुल से अपनी जान बचाकर भागा उसका 14 वर्षीय बेटा किसी तरह गांव में पहुंच गया और आप बीती परिजनों सहित मोहल्ले वासियों को बताई काफी संख्या में एकत्रित मोहल्ले वासी घटनास्थल पर पहुंच गए। पुलिस को 112 नंबर पर फोन कर दिया सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस ने खून से लथपथ किसान को अपने  कब्जे में लेकर उपचार के लिए सीएचसी गढ़मुक्तेश्वर भेज दिया डॉक्टरों ने मेरठ के लिए रेफर कर दिया परिजनों द्वारा मिली जानकारी के अनुसार डॉक्टरों ने ट्रीटमेंट करा कर किसान को उसके घर भेज दिया है फिलहाल मामला खतरे से बाहर है थाने में तहरीर दे दी गई है पुलिस तहरीर के आधार पर जांच कर रही है।


12 साल से कम 121 बच्चे संक्रमित

चेन्नई। भारत में कोरोना वायरस (कोविड-19) के मामले तेजी से बढ़ते जा रहे हैं। महाराष्ट्र, दिल्ली और गुजरात वो राज्य हैं, जो वायरस से बुरी तरह प्रभावित हैं। इस बीच तमिलनाडु से एक हैरान करने वाली खबर सामने आई है। यहां मंगलवार को स्वास्थ्य विभाग की ओर से आंकड़े जारी किए गए हैं। जिसमें पता चला है कि राज्य में 12 साल से कम उम्र के 121 बच्चे कोरोना से संक्रमित हैं। यहां मंगलवार को कोरोना के 121 नए मामले सामने आए हैं, जिसके बाद यहां कुल 2058 केस हो गए हैं।


इन 2058 मरीजों में 1392 पुरुष हैं, 666 महिलाएं हैं। सबसे अधिक मामले चेन्नई से सामने आए हैं। यहां बीते 24 घंटे में ही 103 नए मामले सामने आए हैं, जिससे शहर में कुल मामलों की संख्या बढ़कर 673 हो गई है। 28 अप्रैल तक तमिलनाडु राज्य में कोरोना वायरस के 1128 मरीज ठीक हो चुके हैं। इनमें से 27 को अस्पताल से बीते 24 घंटे में ही डिस्चार्ज किया गया है। इसके अलावा सोमवार रात से मंगलवार शाम के बीच एक मरीज की मौत भी हुई है। राज्य में अब तक वायरस से 25 लोगों की मौत हो गई है।


राज्य सरकार ने जिलों को अलग-अलग जोन में बांटा हुआ है। इसमें सिर्फ एक ही ग्रीन जोन है। इकलौते ग्रीन जोन कृष्णगिरि में पिछले 28 दिनों में कोई नया मामला नहीं आया है। राज्य में 15 ऑरेंज जोन हैं, जहां 15 से कम मामले हैं। और बाकी 29 जिलों को रेड जोन के तहत रखा गया है। स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक, अब तक 1,10,874 सैंपल लिए गए हैं। 30 सरकारी और 11 निजी लैब में टेस्टिंग चल रही है। अब तक 2058 पॉजिटिव मामले मिले हैं। 97,908 सैंपल नेगेटिव पाए गए हैं। 1,908 सैंपल की जांच चल रही है। मंगलवार तक 1,138 मरीजों को अस्पताल से छुट्टी मिल चुकी है। जिसके बाद अब राज्य में 902 सक्रिय मामले हैं।


वहीं देश में कोरोना वायरस के मामले 31 हजार का आंकड़ा पार कर चुके हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने बुधवार सुबह बताया कि भारत में कोरोना वायरस के पॉजिटिव मामलों की संख्या 31332 हो गई है। जबकि इस महामारी से अब तक 1007 लोगों की मौत हो गई है। कुल 31332 मामलों में 1007 मौतें, 7695 ठीक / डिस्चार्ज और 1 माइग्रेट शामिल है। बीते 24 घंटों में 73 मौतें और 1897 नए मामले सामने आए हैं, भारत में मौत के मामलों में सबसे तेज वृद्धि हुई है।


कोरोनाः हलफनामा दायर करें सरकार

कोलकाता। पश्चिम बंगाल के लेफ्ट नेता फौद हलीम द्वारा दायर की गई जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए कलकत्ता हाई कोर्ट के प्रधान न्यायाधीश ने राज्य सरकार से हलफनामा दायर करने को कहा।


प्रधान न्यायाधीश ने हलफनामें में कोरोना  से मुकाबला करने वाले डॉक्टर और स्वास्थ्यकर्मी के पास पर्याप्त PPE किट पहुंचने की स्थिति को राज्य सरकार से स्पष्ट करने के लिए कहा। इसके अलावा, हलफनामे में यह भी स्पष्ट करने के लिए कहा गया है कि आईसीएमआर द्वारा दिए गए दिशा-निर्देश के मुताबिक कोविड-19 के टेस्ट किए जा रहे हैं या नहीं। इस बात को लिखित तौर पर स्पष्ट करने के लिए कहा गया है।कलकत्ता हाई कोर्ट के प्रधान न्यायाधीश ने कहा कि अगर केंद्र सरकार के साथ राज्य सरकार, हाथ से हाथ मिलाकर काम नहीं करेगी तो अपेक्षित परिणाम प्राप्त करना मुश्किल है और कोरोना जैसी महामारी से निपटना मुश्किल हो सकता है। बता दें कि पिछले कई दिनों से राज्य की ममता बनर्जी सरकार और गृह मंत्रालय के बीच राजनीतिक उठापटक चल रही है। गृह मंत्रालय ने कोलकाता और जलपाईगुड़ी, जो कोरोना के हॉटस्पॉट हैं, यहां फील्ड विजिट के लिए Interministerial Central Team भेजी थी। इसी बात को लेकर केंद्र सरकार और राज्य सरकार के बीच खींचतान चल रही थी।


राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने ये कहा था कि प्रधानमंत्री के साथ हुई वीडियो कॉन्फ्रेंस के दौरान हमें बात करने का मौका नहीं दिया गया, मैं पूछना चाहती थी कि ये जो Interministerial central team भेजा गया है क्या वे कोरोना के खिलाफ लड़ाई में कोई काम करेंगे। या सिर्फ सर्वेक्षण ही करती रहेंगी ? IMCT टीम लगातार राज्य के मुख्य सचिव, डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट और एसपी को लगातार बुलाकर पूछताछ कर रही हैं। राज्य सरकार द्वारा दिए गए कोरोना के आंकड़े के मुताबिक कुल कोरोना से संक्रमित मरीजों की संख्या 522 है, पिछले 24 घंटे में 28 नए मरीज कोरोना से संक्रमित हुए हैं, मृतक की संख्या 22 है। वहीं विपक्षी पार्टियां बंगाल सरकार के ऊपर लगातार ये आरोप लगा रही हैं कि राज्य सरकार कोरोना से लड़ने के लिए पर्याप्त कदम नहीं उठा रही है।


दवा मिलने पर अमेरिका ने रुख बदला

नई दिल्ली/वाशिंगटन डीसी। पूरी दुनिया इस समय कोरोना संकट से जूझ रही है। विश्व भर में कोरोना से हाहाकार मचा हुआ है। इसी बीच भारत सरकार के ट्विटर हैंडल को लेकर अमेरिका का बदला रुख सामने आया है। व्हाइट हाउस ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को ट्विटर पर फॉलो करने के कुछ दिन बाद ही अनफॉलो कर दिया है। पीएम मोदी समेत भारत के कुल 6 ट्विटर हैंडल को अनफॉलो किया है। बता दें कि भारत की ओर से हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन देने का फैसला लेने के बाद 10 अप्रैल को व्हाइट हाउस के ट्विटर हैंडल ने भारतीय ट्विटर हैंडल को फॉलो किया था। लेकिन अब व्हाइट हाउस ने इन सभी को अनफॉलो कर दिया है। इनमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, प्रधानमंत्री कार्यालय, राष्ट्रपति भवन, अमेरिका में भारतीय दूतावास और भारत में अमेरिकी दूतावास को फॉलो किया गया। इनके अलावा भारत में अमेरिका के राजदूत केन जस्टर को भी फॉलो किया गया था। इससे पहले मलेरिया की दवा देने पर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने न सिर्फ भारत की प्रशंसा की थी बल्कि पीएम नरेंद्र मोदी को महान नेता करार दिया था। ट्रंप के इस बयान के बाद व्हाइट हाउस के ट्विटर हैंडल ने पीएम मोदी और राष्‍ट्रपति कार्यालय को फॉलो करना शुरू कर दिया था।


राजस्थान में 2383, एमपी में 2387

नई दिल्ली। दुनिया के 200 से अधिक देशों में फैल चुके कोविड-19 का प्रकोप थमने का नाम नहीं ले रहा है। भारत में कोरोना वायरस का कहर लगातार बढ़ता जा रहा है। हर रोज सैकड़ों नए मामले सामने आ रहे हैं। वहीं राजस्थान में कोरोना कहर बरपा रहा है। राजस्थान स्वास्थ्य विभाग के अनुसार राज्य में 19 और लोग कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए हैं। राज्य में मरीजों की संख्या 2383 हो गई है। 19 नए मामलों में जयपुर में 5 मामले सामने आए हैं और अजमेर से 11 मामले सामने आए हैं। उदयपुर, बांसवाड़ा और जोधपुर में एक-एक मामले सामने आए हैं। वही मध्य प्रदेश में अब तक कोरोना संक्रमित के 2387 मामले सामने आ गए हैं। इनमें से इंदौर में 1372 पॉजिटिव केस, भोपाल में 458 पॉजिटिव केस और उज्जैन में 123 पॉजिटिव केस हैं। राज्य में अब तक 120 लोगों की मौत हो चुकी है और 377 मरीज ठीक हो गए हैं।


देश में कोरोना वायरस के प्रकोप से सबसे ज्यादा प्रभावित जिलों में शामिल इंदौर है। मगर इस महामारी के बढ़ते प्रकोप के बीच इंदौर से राहत की खबर आई है। यहां एक साथ 43 मरीज ठीक हो गए हैं। कोरोना रिपोर्ट नेगेटिव आने के बाद इन सभी को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। इंदौर में अब ठीक होने वाले मरीजों का आंकड़ा बढ़कर 177 हो गया है। उत्तर प्रदेश में कोरोना संक्रमितों की कुल संख्या 2058 हो चुकी है। प्रदेश में कोरोना से 34 लोगों की मौत भी हो चुकी है और 462 लोग ठीक हो गए हैं। मंगलवार को राज्य में कुल 66 मामले सामने आए थे।
बुधवार को 725 सैंपलों की रिपोर्ट आई, जिसमें से 20 पॉजिटिव पाए गए। इनमें सबसे ज्यादा 9 संक्रमित आगरा के हैं, जबकि चार लखनऊ और सात फिरोजाबाद के हैं। अब तक प्रदेश के 59 जिलों में संक्रमण फैल चुका है, जबकि 9 जिले संक्रमण मुक्त हो चुके हैं। महाराष्ट्र में भी हालात सुधरने का नाम नहीं ले रहे है। यहां कोरोना से मौत का आंकड़ा 400 पहुंच गया है, जबकि संक्रमित लोगों की संख्या 9318 है। अकेले मुंबई में 6169 लोग कोरोना पॉजिटिव आए हैं, जबकि 244 लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं एशिया के सबसे बड़े स्लम धारावी में 300 से ज्यादा कोरोना के पॉजिटिव केस आ चुके हैं। महाराष्ट्र में 112 पुलिसकर्मी कोरोना से संक्रमित पाए गए हैं। इसमें 3 पुलिस वालों की अब तक मौत भी हुई है।


ग्रीन-ऑरेंज जोन में शुरू गतिविधियां

उत्तर प्रदेश के ग्रीन और ऑरेंज जोन में शुरू होंगी गतिविधियां, प्रदेश के 25 जिले कोरोना से मुक्त
लखनऊ। कोरोना वायरस के प्रकोप के कारण लगा लॉकडाउन तीन मई के बाद खुलेगा या नहीं, खुलेगा तो किस तरह से, यह निर्णय केंद्र सरकार का होगा, लेकिन उत्तर प्रदेश में ग्रीन और ऑरेंज जोन बनाकर गतिविधियां शुरू करने की तैयारी योगी सरकार कर रही है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इसके लिए अधिकारियों को कार्ययोजना बनाने के निर्देश दिए हैं। यह भी दावा किया गया है कि अब यूपी के 25 जिले कोरोना से मुक्त हो गए हैं।


उत्तर प्रदेश में हॉटस्पॉट वाले जिलों के साथ ही अन्य क्षेत्रों में कोरोना संक्रमण व लॉकडाउन की समीक्षा मंगलवार को लोकभवन में टीम-11 के अधिकारियों के साथ मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने की। अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी ने पत्रकारों से बातचीत में बताया कि मुख्यमंत्री ने ग्रीन और ऑरेंज जोन में विभिन्न गतिविधियां शुरू करने के लिए कार्ययोजना बनाने के निर्देश दिए हैं।


सीएम योगी ने यह भी कहा है कि तीन मई के बाद औद्योगिक इकाइयों को कैसे चलाया जाए, इस पर कार्ययोजना बनाएं। मास्क निर्माण के लिए महिला स्वयं सहायता समूहों का चयन करने के लिए कहा है। वहीं, सरकार ने दावा किया है कि प्रदेश के 25 जिले अब कोरोना से मुक्त हो चुके हैं। बैठक में वित्त एवं चिकित्सा शिक्षा मंत्री सुरेश खन्ना, स्वास्थ्य मंत्री जयप्रताप सिंह और मुख्य सचिव आरके तिवारी सहित सभी वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।


पांच अतिरिक्त जिलों में विशेष नोडल अधिकारी
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर 18 जिलों में विशेष नोडल अधिकारियों की तैनाती की गई है। मंगलवार को हापुड़, वाराणसी, रामपुर, मुजफ्फरनगर और अलीगढ़ में भी पुलिस व प्रशासन के एक-एक वरिष्ठ अधिकारी की तैनाती का निर्देश दिया है।


पीपीई किट को लेकर फैलाई जा रहीं तथ्यहीन बातें
अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी का कहना है कि स्वास्थ्य विभाग द्वारा प्रयोग किए जाने वाले पीपीई किट को लेकर भ्रामक व तथ्यहीन बातें फैलाई जा रही हैं। कोविड केस आने पर पहले से मौजूद एस-1, एस-2 के लिए उपलब्ध पीपीई किट का प्रयोग शुरू किया गया था, जो 115 रुपये में अक्टूबर 2019 में खरीदी गई थीं। वह स्वास्थ्य कर्मियों को फौरी बचाव के लिए उपलब्ध कराई गईं। फिर जैसे ही कोविड के लिए मानक अनुसार पीपीई किट उपलब्ध होने लगीं तो एस-1, एस-2 की पीपीई किट वापस मंगा ली गईं। नई किट की कीमत 1100 रुपये से अधिक है। पीपीई किट के संबंध में भ्रामक व तथ्यहीन बातें किसने फैलाईं? इसकी जांच भी की जा रही है।


यह हैै जोन व्यवस्था


रेड जोन: इनमें वे जिले आते हैं जिनमें कोरोना संक्रमण के हॉटस्पॉट हैं और जिसमें इस महामारी के मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ रही है। इसमें वे जिले भी आते हैं जिनमें कोरोना संक्रमण के दोगुने होने की रफ्तार चार दिनों से कम है।


ऑरेंज जोन: इसमें वे जिले आते हैं जिनमें पिछले 14 दिनों में कोरोना संक्रमण का कोई मामला न रिपोर्ट हुआ हो।


ग्रीन जोन: इसमें वे जिले आते हैं जिनमें कोरोना संक्रमण का अब तक कोई मामला न आया हो या पिछले 28 दिनों के दौरान कोरोना संक्रमण का कोई नया केस न आया हो।


हरियाणा में मरीजों की संख्या- 310

हरियाणा में 310 हुए कुल संक्रमित / झज्जर में फिर दिल्ली से सब्जी लाने वाला मिला संक्रमित, फरीदाबाद में बुजुर्ग की मौत, प्राइवेट लैब में टेस्ट आया था पॉजिटिव
फरीदाबाद स्वास्थ्य विभाग ने बजुर्ग के दोबारा भेजे जांच के लिए सैंपल
बुधवार को प्रदेश में झज्जर जिले में 1 नया मरीज आया सामने
 फरीदाबाद। हरियाणा में कोरोना मरीजों की संख्या 310 पहुंच गई है। बुधवार को झज्जर जिले में 1 नया मरीज सामने आया है। वह भी दिल्ली अजादपुर मंडी से सब्जी लेकर आता था। इसके बाद अब झज्जर जिले में कुल संक्रमित मरीजों का आंकड़ा 7 हो गया है। वहीं फरीदाबाद में एक 67 वर्षीय व्यक्ति की प्राइवेट अस्पताल में मौत हो गई। उसकी कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी। हालांकि टेस्ट प्राइवेट लैब से करवाया गया था। अब स्वास्थ्य विभाग ने उसके सैंपल दोबारा जांच के लिए भेजे हैं। इसके बाद ही पुष्टि हो पाएगी की वह कोरोना पॉजिटिव था या नहीं।
दिल्ली की ट्रेवल हिस्ट्री बढ़ा रही है झज्जर जिले की टेंशन
झज्जर जिले के लिए दिल्ली ने टेंशन बढ़ा दी है। ग्रीन जोन में रखे गए झज्जर जिले में लगातार मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है। यहां अब 7 मरीज हो गए हैं। स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी रिपोर्ट के मुताबिक एक और कोरोना पॉजिटिव की पुष्टि हुई है। वह भी दिल्ली अजादपुर सब्जी में जाता था। स्वास्थ्य विभाग ने उसके उन दो साथियों के भी सैंपल जांच के लिए भेजे हैं जोकि कोरोना पॉजिटिव युवक के साथ एक ही कमरे में रहते थे। सिविल सर्जन आरएस पूनिया ने बताया कि 341 लोगों के सैंपल जांच के लिए भेजे थे। इनमें से अभी 124 लोगों की रिपोर्ट आनी बाकि है। सब्जी मंडी में एक और कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद पूरा स्वास्थ्य विभाग अलर्ट पर आ गया है। बुधवार को सब्जी मंडी के बाहर व आस-पास के क्षेत्रों में लगे पुलिसकर्मियों के स्वास्थ्य की भी जांच की गई।
67 वर्षीय व्यक्ति की बीती रात मौत
फरीदाबाद में एक बुजुर्ग की मौत के बाद स्वास्थ्य विभाग में खलबली मच गई है। 67 वर्षीय इस व्यक्ति की बीती रात करीब 10:30 बजे मृत्यु हुई है। एक निजी अस्पताल में भर्ती रहे इस व्यक्ति का इलाज चल रहा था। उसी निजी अस्पताल ने अपने स्तर पर ही मृतक व्यक्ति का कोरोना टेस्ट एक प्राइवेट लैब से करवाया था, जिसमें उसे पॉजीटिव बताया गया था। हालांकि कहा जा रहा है कि इस व्यक्ति को शुगर, हाईपरटेंशन व सांस की गंभीर बीमारी थी। मगर प्राइवेट लैब की जांच में इस व्यक्ति को कोरोना होने की पुष्टि हुई थी। सिविल सर्जन डॉक्टर कृष्ण कुमार ने बताया कि एक मरीज की उम्र करीब 68 वर्ष थी, जो एक निजी अस्पताल में 27 अप्रैल को भर्ती हुआ था। बीती रात करीब 10:30 बजे निधन हो गया। प्राइवेट लैब से जांच के मामले पहले भी संदेहास्पद रहे हैं, अतः इसकी सरकारी लैब से कोरोना जांच करवाने के लिए दोबारा सैंपल भेजे गए हैं, जिनकी रिपोर्ट पेंडिंग है।
हरियाणा में 310 पहुंचा आंकड़ा, अब भी नूंह पहले नंबर पर
राज्य में सबसे ज्यादा 57 मरीज नूंह के हैं। गुड़गांव में 51, फरीदाबाद में 46, पलवल में 34, पंचकूला में 19, सोनीपत में 24, अम्बाला में 14, पानीपत में 13, झज्जर में 7, करनाल में 6, रोहतक, हिसार और सिरसा में 4-4, यमुनानगर और भिवानी में 3-3, कैथल, जींद, कुरुक्षेत्र में 2-2 और चरखी दादरी, झज्जर और फतेहाबाद में एक-एक पॉजिटिव मरीज मिला। इसके अलावा, मेदांता अस्पताल गुड़गांव में 14 इटली के नागरिकों को भी भर्ती करवाया गया था, जिन्हें हरियाणा ने अपनी सूची में जोड़ा गया है। उनके समेत कुल संक्रमित का आंकड़ा 310 है।
अब तक 224 मरीज हुए ठीक प्रदेश में अब कुल 224 मरीज ठीक हो गए हैं। नूंह में 46, फरीदाबाद में 40, गुरुग्राम में 36, पलवल 32, पंचकूला में 13, अम्बाला में 10, करनाल और पानीपत में 5-5, सिरसा और सोनीपत में 4-4, यमुनानगर में 3, हिसार, कैथल, कुरुक्षेत्र और भिवानी में 2-2, चरखी दादरी, फतेहाबाद 1-1 मरीज ठीक होने पर घर भेजा गया। 14 मरीज इटली के भी ठीक हुए हैं, उनके समेत कुल आंकड़ा 224 हो जाता है।
हरियाणा में अभी तक 133 जमाती मिले संक्रमित
प्रदेश में अब तक 133 जमाती संक्रमित मिले हैं। इनमें सबसे ज्यादा नूंह जिले से हैं। यहां कुल 42 जमाती संक्रमित पाए गए। इसके अलावा, पलवल 31, फरीदाबाद 23, गुरुग्राम 15, अम्बाला 5, पंचकूला 7, यमुनागर 3, भिवानी 2, कैथल, जींद, चरखी दादरी, फतेहाबाद और सोनीपत में एक-एक मरीज संक्रमित मिला। यह सभी मरकज से लौटे थे। जिन्हें अलग-अलग मस्जिदों और गांवों से पकड़ा गया था।


बची, शेष परीक्षाएं नहीं होगीः सीबीएसई

नई दिल्ली। देश में जानलेवा कोरोना वायरस संकट और लागू लॉकडाउन के बीच सीबीएसई बोर्ड ने बड़ा फैसला लिया है। सीबीएसई की दसवीं बोर्ड की बची हुईं परीक्षाएं अब नहीं होंगी। केवल दिल्ली के नॉर्थ ईस्ट दिल्ली में तनाव के चलते रद्द हुई परीक्षाओं को ही दोबारा कराया जाएगा। सीबीएसई सचिव ने कहा की हालात सामान्य होते ही कॉपियों के जांचने का काम शुरू होगा उन्होंने कहा हे की 12वीं कक्षा के बचे हुए 12 विषयों में केवल महत्वपूर्ण परीक्षाएं ही ली जाएंगी। सीबीएसई के मुताबिक, कॉपियां जांचने और रिजल्ट के आने में अभी कम से कम ढाई महीने लगेंगे। सबकुछ लॉकडाउन की स्थिति पर निर्भर करेगा।
बच्चों में आ रहे तनाव को लेकर सीबीएसई सचिव ने कहा है, ‘’अध्यापक और बच्चे दोनों के लिए ऑनलाइन शिक्षा नई व्यवस्था है। ऐसे तनाव तो आएगा ही. लेकिन सीबीएसई अध्यापकों को ऑनलाइन शिक्षा के दौरान रचनात्मकता को बढ़ाने की सलाह दे रहा है। ताकि बच्चे तनावग्रस्त न हो। पैरेंट्स भी घर पर इसे दूर करने में मदद करें। ’ज्ञात रहे कल ही केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने छात्रों की समस्याओं को ध्यान में रखते हुए बोर्ड परीक्षाओं की कॉपियों को जांचने के निर्देश दिए हैं। राज्यों के शिक्षा मंत्रियों को कहा गया है कि राज्य के बोर्ड जल्द से जल्द कॉपियों का मूल्यांकन शुरू करें। साथ ही सभी राज्य सीबीएसई को भी कॉपियों के मूल्यांकन के लिए व्यवस्था मुहैया कराएं। ताकि जल्द से जल्द परीक्षा के परिणाम घोषित किये जा सके।


सब्जी मंडी के 11 व्यापारी हुए संक्रमित

 दिल्ली के सब्जी मंडी से जुड़े 11 व्यापारी हुए कोरोना संक्रमित


कविता गर्ग


राजधानी दिल्ली में स्थित आजादपुर मंडी से जुड़े 11 कारोबारियों के कोरोना वायरस से संक्रमित पाए जाने के बाद एशिया की इस सबसे बड़ी मंडी पर वैश्विक महामारी कोरोना वायरस (कोविड-19) का खतरा तेजी से बढ़ता जा रहा है। उत्तर दिल्ली जिलाधिकारी दीपक शिंदे ने बुधवार को बताया कि आजादपुर मंडी से जुड़े 11 व्यापारियों की कोरोना वायरस जांच रिपोर्ट पाजिटिव आई है। इन लोगों के संपर्क में जो लोग आए हैं उनका पता लगाने का काम शुरू कर दिया गया है। शिंदे ने बताया कि कोरोना पॉजिटिव पाए गए लोगों का मंडी से सीधा संबंध नहीं है और एहतियात के तौर पर इनके संपर्क में आए लोगों की तलाश की जा रही है। पिछले दिनों भी मंडी से जुड़े एक व्यापारी के कोरोना संक्रमित होने की रिपोर्ट थी।


​दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने बुधवार को कहा कि आजादपुर मंडी को सही तरीके से संक्रमणमुक्त किया जा रहा है। आस-पास की सभी दुकानें जहां COVID-19 पॉजिटिव मामले सामने आए थे, सील कर दी गई हैं। सभी एहतियाती उपाय किए जा रहे हैं। सत्येंद्र जैन ने कहा कि जो लोग स्पर्शोन्मुख हैं या उनमें COVID-19 के हल्के लक्षण हैं, उन्हें 14 दिनों के लिए होम क्वारंटाइन में रखा जाएगा और नए प्रोटोकॉल के अनुसार, उनके घरों में इलाज किया जाएगा। ऐसे रोगियों को अस्पताल में भर्ती करने की आवश्यकता नहीं है। केंद्र ने कहा है कि प्लाज्मा थेरेपी बहुत तकनीकी है और वर्तमान में प्रायोगिक स्तर पर है। जिनके पास इसकी अनुमति नहीं है, उन्हें इसका अभ्यास नहीं करना चाहिए। दिल्ली के पास केंद्र सरकार की अनुमति है। जिनके पास इसकी अनुमति है, केवल उन्हें ही इससे इलाज को करना चाहिए।
संपर्क में आने वालों की तलाश जारी


मंडी सूत्रों ने बताया कि व्यापारियों के संक्रमण का मामला सामने आने पर कई दुकानों को सील किए जाने की कार्रवाई की जा रही है तथा व्यापारियों के संपर्क में आने वालों का पता लगाकर क्वारंटाइन करने का काम भी शुरू किया गया है। आजादपुर एशिया की सबसे बड़ी फल और सब्जी मंडी है। मंडी में हजारों कारोबारी रोजाना खरीद-फरोख्त के लिए आते हैं। यहां से कुछ दिन पहले लॉकडाउन उल्लंघन की रिपोर्ट भी आई थीं। दिल्ली कोरोना संक्रमितों की संख्या के मामले में तीसरे नंबर पर है। राजधानी में वायरस के अबतक कुल 3337 मामले सामने आ चुके हैं और 54 लोगों की मृत्यु हुई है।


सीआरपीएफ एसआई की मौत, बटालियन सील

नई दिल्ली। कोरोना वायरस महामारी का असर देश में लगातार बढ़ता जा रहा है, आम आदमी से लेकर खास तक हर कोई इस वायरस की चपेट में आ रहा है। मंगलवार को कोरोना से जुड़ी एक चिंता वाली खबर सामने आई जब अर्धसैनिक बलों में इस महामारी की वजह से पहली मौत दर्ज की गई, सीआरपीएफ की 31 बटालियन में तैनात सब- इंस्पेक्टर इकराम हुसैन का निधन हो गया। जिसके बाद दिल्ली में सीआरपीएफ की एक बटालियन को सील कर दिया गया है। सीआरपीएफ में लगातार कोरोना वायरस के मामले बढ़ते गए हैं। अभी तक सीआरपीएफ के 46 सदस्य कोरोना वायरस से पॉजिटिव पाए जा चुके हैं, जबकि 257 के टेस्ट का नतीजा आना बाकी है। करीब बटालियन के करीब 1100 सदस्यों को क्वारनटीन किया गया है और पूरी बटालियन सील है।


सूत्रों की मानें तो सीआरपीएफ में बड़ी संख्या में कोरोना वायरस के मामले आने के बाद गृह मंत्रालय ने नाखुशी व्यक्त की है। गृह मंत्रालय की ओर से सीआरपीएफ के डीजी से इस मामले में रिपोर्ट मांगी गई है और पूछा गया है कि कोरोना वायरस को फैलने से रोकने में क्या चूक हुई है। अप्रैल में पहले सीआरपीएफ में 5 दिनों के क्वारनटीन के लिए एडवाइजरी जारी की गई थी, जबकि गृह मंत्रालय ने इसकी अवधि 14 दिन तय की थी। हालांकि, बाद में CRPF ने भी बदलाव करते हुए क्वारनटीन की अवधि को 14 दिन किया। सूत्रों की मानें तो इस पूरे मामले में 30 अप्रैल तक रिपोर्ट पेश करने को कहा गया है।


इसके अलावा CRPF के द्वारा एक आदेश भी जारी किया गया, जिसमें छुट्टी पर गए हुए पैरामैडिकल स्टाफ को पास के CRPF अस्पताल में रिपोर्ट करने को कहा गया। इस दौरान किसी भी तरह लॉकडाउन का उल्लंघन ना करने की बात कही गई. इसी दौरान जुड़ने वाले सदस्यों को 5 दिन का क्वारनटीन का ऑर्डर था। सीआरपीएफ में कोरोना वायरस की वजह से जिन इकराम हुसैन की मौत हुई है, वह कुपवाड़ा में तैनात थे। लेकिन छुट्टी पर अपने घर नोएडा आए हुए थे और ऑर्डर मिलने के बाद मयूरविहार के अस्पताल में उन्होंने रिपोर्ट किया। लेकिन यहां पर ही एक असिस्टेंट के संपर्क में आने से उनको कोरोना वायरस हो गया। क्वारनटीन के दौरान इकराम में कोरोना के कोई लक्षण नहीं दिखे थे।


इकराम हुसैन 16 से 18 अप्रैल के बीच कोरोना वायरस पीड़ित के संपर्क में आए, लेकिन 24 तारीख को इसके बारे में जानकारी हुई। जिसके बाद से ही सीआरपीएफ में कोरोना वायरस के मामले सामने लगे। सीआरपीएफ के जवान के मुताबिक, कोरोना पॉजिटिव पाए जाने वाले व्यक्ति का इलाज सरकार करवा रही है। लेकिन जो टेस्ट करवाने पड़ रहे हैं उनकी फीस खुद जवान ही दे रहे हैं, हालांकि बाद में इस राशि को रिइंबर्स किया जा रहा है। लगातार मामले बढ़ते देख सीआरपीएफ में ही एक कोविड मैनेजमेंट यूनिट बना दी गई है।


उद्योगपति बीआर शेट्टी हुए बर्बाद

दुबई। संयुक्त राज्य अमीरात के सेंट्रल बैंक (CBUAE) ने देश में वित्तीय संस्थानों को भारतीय अरबपति बीआर शेट्टी और उनके परिवार के सभी बैंक खातों की खोज करने और उन्हें फ्रीज करने के निर्देश दिए हैं और अपने पूरे वरिष्ठ प्रबंधन के साथ उनसे जुड़ी कई फर्मों को ब्लैकलिस्ट भी कर दिया है।


गल्फ न्यूज के अनुसार, CBUAE ने सभी वित्तीय संस्थानों को निर्देश दिया कि वे शेट्टी के खातों से स्थानान्तरण को रोकें और जमा बॉक्स तक पहुंच से वंचित करें। पिछले हफ्ते एक एडवाइजरी जारी करते हुए, शीर्ष बैंक ने फेडरल अटॉर्नी जनरल के फैसलों का हवाला दिया और वित्तीय संस्थानों को शेट्टी या उनके परिवार के सदस्यों के नाम से किसी भी बैंक खाते, जमा या निवेश को खोजने और फ्रीज करने के लिए कहा।


शेट्टी एनएमसी हेल्थ के संस्थापक हैं और वर्तमान में भारत में आरोपों का सामना कर रहे हैं। कुल मिलाकर, यूएई बैंकों के पास शेट्टी की NMC से अधिक 8bn का एक संयुक्त प्रदर्शन है जो ओमान स्थित बैंकों और वित्तीय संस्थानों के लिए भी पैसा देता है। एनएमसी हेल्थकेयर और एनएमसी होल्डिंग के लिए इसी तरह की एक सलाह जारी की गई है, जो कि प्लेनरी फंड प्रॉसिक्यूशन के प्रमुख के फैसले पर आधारित है। सेंट्रल बैंक ने शेट्टी से जुड़ी कई कंपनियों को ब्लैकलिस्ट भी कर दिया है। इन फर्मों के प्रमुख कर्मचारियों को समान रूप से ब्लैकलिस्ट किया गया है।


एक रिपोर्ट छपी और फूटी किस्मत


शेट्टी के बिजनस को तब करारा झटका लगा, जब पिछले साल दिसंबर में मड्डी वाटर रिसर्च के फाउंडर तथा शॉर्ट सेलर कारसन ब्लॉक ने अपनी एक रिपोर्ट में एनएमसी हेल्थ पर संपत्ति का फर्जी आंकड़ा देने तथा कंपनी की संपत्तियों की चोरी का आरोप लगाया। इसके महज तीन महीने के बाद ही एनएमसी के शेयरों को लंदन स्टॉक एक्सचेंज पर कारोबार करने से रोक दिया गया और दो सप्ताह पहले इसने घोषणा की कि उसपर लगभग 5 अरब डॉलर (लगभग 40 हजार करोड़ रुपये) का कर्ज है।


केंद्रीय बैंक ने शुरू की जांच


यूएई एक्सचेंज ने इस सप्ताह अपनी शाखाओं तथा ऑनलाइन प्लेटफॉर्म के जरिए नया लेनदेन बंद कर दिया, क्योंकि यूएई के केंद्रीय बैंक ने घोषणा की थी कि उसने यूएई एक्सचेंज के खिलाफ जांच शुरू की है और इसके ऑपरेशंस मैनेजमेंट की जांच करेगा।


शेट्टी का बुर्ज खलीफा में है दो फ्लोर


यूएई में शेट्टी की निजी संपत्तियों में दुनिया की सबसे ऊंची इमारत बुर्ज खलीफा में दो फ्लोर और पॉम जुमेरिया में एक विला है। पिछले साल सितंबर में उन्होंने अरेबियन बिजनस से बातचीत में कहा, ‘चुनौतियां हर वक्त होती हैं, लेकिन जब आप उनके सामने नहीं झुकते हैं और सही तरीके से काम करते हैं तो वह आपके रास्ता से हट जाता है। हम नंबर वन हैं। आपको बता दे इससे पहले बीआर शेट्टी का आरएसएस से भी लिंक सामने आया था वहीं दुबई में मंदिर निर्माण में अहम भूमिका निभाई थी।


आग से जलकर सात घर हुए खाक

शिमला। हिमाचल प्रदेश के शिमला जिले के एक गांव में बुधवार को भीषण आग लगने से लकड़ी के कम से कम सात घर और लाखों रुपये की संपत्ति जलकर खाक हो गई। आग कथित तौर पर तब भड़की,जब रोहड़ू क्षेत्र के चिरगांव के शिशत्वाड़ी गांव में रहने वाले लोग अपने घरों में सो रहे थे। घटना में एक व्यक्ति लापता है, जबकि दो घायल हुए हैं।बचाव दल राज्य की राजधानी से 140 किलोमीटर दूर घटनास्थल पर पहुंचे और ग्रामीणों को बाहर निकाला। आग के कारणों का अभी पता नहीं चला है। क्षेत्र में चार दिनों में आग लगने की यह तीसरी घटना है। इससे पहले, 26 अप्रैल को दुगयाना गांव में आग लगने से कम से कम 12 घर जल गए थे और एक बुजुर्ग महिला जिंदा जल गई थीं। 27 अप्रैल को चिरगांव के बाजार में आग लगने की घटना सामने आई थी।


 


सरकार ने राहुल का बयान खारिज किया

नई दिल्ली। केंद्र सरकार ने कांग्रेस पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी के बयान पर कड़ी प्रतिक्रिया जताई है। कांग्रेस नेता ने मंगलवार को ट्वीट कर कहा था कि बैंकों ने 50 बड़े विलफुल डिफॉल्टर्स का 68,607 करोड़ रुपये का कर्ज बट्टे खाते में डाल दिया है। केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने उनके बयान पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए बुधवार को कहा, “कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी को चाहिए कि वह पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम से ट्यूशन लें।”उन्होंने कहा, “राहुल गांधी द्वारा जिस तरह से कहा गया कि विलफुल डिफॉल्टर्स के खाते से कुछ लोगों को निकाल दिया गया है, ये सही नहीं है। ये गलत बात है ..किसी का भी कर्ज माफ नहीं हुआ है, राहुल गांधी ये समझ लें कि ‘राइटिंग ऑफ’ और ‘वेव ऑफ’ दोनों में काफी अंतर होता है।”


गौरतलब है कि कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने कहा था कि देश के बैंकों ने 50 बड़े विलफुल डिफॉल्टर्स का 68,607 करोड़ रुपये का कर्ज बट्टे खाते में डाल दिया है।


केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने राहुल गांधी के आरोप को खारिज करते हुए कहा, “ये सही नहीं है कि मोदी सरकार ने 65 हजार करोड़ रुपये माफ कर दिए हैं। सराकर ने एक भी पैसा माफ नहीं किया है। कर्ज को बट्टे खाते में डालना जमाकर्ताओं को बैंक की सही तस्वीरें दिखाने की प्रक्रिया है। यह बैंकों को वसूली करने से नहीं रोकता है।”उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने सभी लोगों के खिलाफ शिकंजा कसा है। नीरव मोदी की संपत्ति जब्त और नीलाम की गई है। अब विजय माल्या के पास कोई विकल्प नहीं बचा है। हाईकोर्ट ने उनकी अपील को खारिज कर दिया है।


 


सिविल लाइन में लटका मिला सिपाही

नई दिल्ली। दिल्ली पुलिस की नई रिजर्व पुलिस लाइन में बुधवार सुबह के वक्त एक हवलदार का शव लटका मिलने से हड़कंप मच गया। हवलदार का नाम भूप सिंह है। हवलदार का शव पुलिस बैरक स्थित शौचालय में लटका मिला है। घटना की जांच के लिए मुखर्जी नगर थाना पुलिस मौके पर है।


दिल्ली पुलिस सूत्रों के मुताबिक, “बुधवार को नई पुलिस लाइन में सब कुछ सामान्य था। पूर्वान्ह में पुलिस लाइन में मौजूद किसी ने हवलदार का शव लटका देखा तो इसकी खबर उच्चाधिकारियों को दी गयी। सूचना मिलते ही मुखर्जी नगर थाना पुलिस भी घटना स्थल पर पहुंच गयी। मौका मुआयना और पंचनामा भरने के बाद शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भिजवा दिया गया। दिल्ली पुलिस के अतिरिक्त प्रवक्ता के मुताबिक, “घटना की जानकारी ली जा रही है। यह मामला मुखर्जी नगर थाना इलाके में घटी है।”


जानकारी के मुताबिक, “हवलदार भूप सिंह का शव पहली मंजिल पर स्थित बैरक नंबर-8 के शौचालय में रस्सी के सहारे लटका हुआ था। प्रथम ²ष्टया मामला आत्महत्या का लग रहा है। मगर अभी इसकी पुष्टि नहीं हो सकी है। मौत की वजह पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट के बाद ही सामने आ पायेगी।” दिल्ली पुलिस मुख्यालय सूत्रों के मुताबिक, “हवलदार भूप सिंह दिल्ली पुलिस मुख्यालय स्थित डीसीपी सूचना एवं तकनीक (आईटी) में तैनात थे। घटना की सूचना मिलते ही मौके पर मुखर्जी नगर थाना पुलिस के साथ साथ दिल्ली पुलिस चतुर्थ वाहनी के रिजर्व इंस्पेक्टर, एसीपी वीरेंद्र धामा और एसीपी बी एस मान भी मौके पर पहुंच गये।”दिल्ली पुलिस मुख्यालय सूत्रों के अनुसार, हवलदार भूप सिंह अलवर राजस्थान के गांव अरमरोध पोस्ट खानपुर अहीर के रहने वाले थे।


 


केंद्रीय कर्मचारियों के लिए अनिवार्य ऐप

नई दिल्ली। केन्द्र सरकार ने कोरोना महामारी से निपटने के उपायों के तहत अपने सभी कर्मचारियों को अपने फोन में आरोग्य सेतु ऐप तत्काल डाउनलोड करने का निर्देश दिया है। सरकार का कहना है कि यह कदम सभी कर्मचारियों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए उठाया गया है।


केन्द्रीय कार्मिक, शिकायत और पेंशन मामलों के मंत्रालय ने आज एक आदेश जारी कर कहा कि कोरोना वायरस के संक्रमण की श्रंखला को तोड़ने के लिए उसके कार्यालयों में काम करने वाले सभी अधिकारियों और कर्मचारियों जिनमें अनुबंधित कर्मचारी भी शामिल हैं को आरोग्य सेतु ऐप तत्काल अपने फोन में डाउनलोड करनी होगी।


 


एक साथ हुआ 5 बच्चों का जन्म

बाराबंकी। कोरोना संकट से जहां एक ओर पूरा देश परेशान है। वहीं उत्तर प्रदेश के बाराबंकी के सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में एक साथ पांच बच्चों का समान्य प्रसव कराया गया है। प्रसूता की हालत स्वस्थ बताई जा रही है। वहीं, एक बच्चें को श्वास लेने में कुछ दिक्कत है। इस कारण महिला समेत सभी बच्चों को जिला अस्पताल रेफर किया गया है। महिला का पांच वर्ष में यह दूसरा प्रसव है। इसमें पांच बच्चों में दो लड़के और तीन लड़की शामिल हैं। एक बच्चे की हालत कुछ गड़बड़ है शेष बच्चे स्वस्थ हैं। डाक्टर के अनुसार बच्चों ने समय से पूर्व ही जन्म लिया है, इसलिए इनका आवश्यक उपचार किया जा रहा है।


बाराबंकी जिले के विकासखण्ड सूरतगंज इलाके के गांव कुतलूपुर गाँव के निवासी कुन्दन गौतम की पत्नी अनीता गौतम ने आज स्थानीय सीएचसी पर पांच बच्चों को जन्म दिया। बच्चों के समय से पहले पैदा होने के कारण उनके आवश्यक उपचार के लिए उन्हें जिला अस्पताल भेज दिया गया। बच्चों के पिता कुन्दन गौतम ने बताया, “आज मेरी पत्नी ने पांच बच्चों को जन्म दिया है जिसमें तीन लड़कियां और दो लड़के शामिल है। उनके घर में ऐसी पहली खुशी आने से वह काफी खुश है। डाक्टरों ने सभी बच्चों को और उनकी पत्नी को स्वस्थ होना बताया है जो उनके लिए बड़ी राहत की बात है।”


जिला अस्पताल पर तैनात डाक्टर इंद्र मोहन तिवारी ने बताया कि यह पांच बच्चे सूरतगंज सीएचसी पर हुए हैं। बच्चे सात माह में पैदा हुए हैं। फिलहाल अभी एक बच्चे की हालत ठीक नहीं है। सभी का उपचार हो रहा है। यह नार्मल डिलीवरी है और 34 से 35 सप्ताह के बच्चे हैं।


 


तीन कारणों से कंट्रोल किया कोरोना

बीजिंग। कोरोनावायरस कई प्रकार के विषाणुओं (वायरस) का एक समूह है जो स्तनधारियों और पक्षियों में रोग उत्पन्न करता है। यह आरएनए वायरस होते हैं। इनके कारण मानवों में श्वास तंत्र संक्रमण पैदा हो सकता है जिसकी गहनता हल्की (जैसे सर्दी-जुकाम) से लेकर अति गम्भीर (जैसे, मृत्यु) तक हो सकती है।
चीन में कोरोनावायरस तेजी से कम हो गया और चीन ने कुछ ऐसे कदम उठाएं जिसके कारण कोरोनावायरस अब चीन में पूरी तरह से खत्म हो चुका है और आज मैं आपको ऐसे तीन कारण बताने वाला हूं जिसके कारण चीन इस परिस्थिति में आ पाया है ।
जैसा कि आप सभी जानते होंगे कि कोरोनावायरस भारत में भी तेजी से फैल रहा है और इसे अगर जल्द नहीं रोका गया तो यह और भी ज्यादा घातक बन सकता है । चलिए अब जानते हैं कि चीन ने कोरोनावायरस को कैसे रोका ।
1) चीन में थोड़ी सख्ती बरती गई और यही कारण है कि वहां पर कोरोनावायरस को तेजी से खत्म किया गया । चीन ने दूसरे देशों से व्यापार करना बंद कर दिया और सभी विमान भी बंद कर दिए जिसके कारण लोगों का आना जाना रुक गया । चीन ने पूरे देश में लोग दाम घोषित कर दिया जिसके कारण कोरोनावायरस तेजी से घटा और यही काम अब भारत भी कर रहा है ।
2) चीन ने हर जगह पर टेस्ट सेंटर खोल दिए जिसके कारण यह पता किया गया कि किन लोगों को कोरोनावायरस है और किन लोगों को नहीं और जिन लोगों को कोरोनावायरस था उन्हें तुरंत इलाज के लिए भेज दिया गया और आइसोलेट कर दिया गया ।
3) चीन में मरीजों से ज्यादा वॉलिंटियर उपयुक्त कराए गए जिसके कारण जब जिसे जरूरत पड़ी उसे तुरंत इलाज के लिए ले गया गया और यही वजह थी कि चीन कोरोनावायरस को तेजी से खत्म करने में सफल हो पाया ।


महाराष्ट्रः खतरे में सीएम की कुर्सी

महाराष्ट्र कैबिनेट की बैठक कैंसिल अजित पवार की अगुवाई में होनी थी बैठक
मुंबई । महाराष्ट्र कैबिनेट की बैठक कैंसिल हो गई है। डिप्टी सीएम अजित पवार की अगुवाई में आज होने वाली कैबिनेट की बैठक को आज अचानक निरस्त कर दिया गया है। इस कैबिनेट बैठक में चुनाव आयोग से विधान परिषद (एमएलसी) चुनाव कराने की मांग की जानी थी, ताकि मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के 6 महीने पूरे होने से पहले यानी 27 मई से पहले चुनाव कराया जा सके। उद्धव ठाकरे को राज्यपाल कोटे से एमएलसी बनाने के लिए कैबिनेट लगातार गुहार लगा रहा है, लेकिन राज्यपाल की ओर से अबतक कोई सटीक जवाब नहीं आया है। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को विधान परिषद का सदस्य मनोनीत करने के प्रस्ताव को लेकर महा विकास अघाड़ी का प्रतिनिधिमंडल कल राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मिला।


राज्यपाल ने नहीं भरी हामी


लेकिन सूत्रों की माने तो राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने उद्धव को एमएलसी बनाने के लिए कोई हामी नहीं भरी है। उद्धव ठाकरे ने 28 नवंबर 2019 को मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी और अभी वह विधानमंडल के किसी भी सदन के सदस्य नहीं हैं। संविधान के तहत उन्हें 6 महीने के अंदर यानी 27 मई 2020 तक किसी सदन का सदस्य बनना जरूरी है।


6 महीने में किसी सदन का सदस्य बनना जरूरी


उद्धव ठाकरे बिना चुनाव लड़े ही सीधे सीएम बने हैं, ऐसे में उन पर यह नियम लागू होता है। उद्धव की कुर्सी बचाने के लिए आज कैबिनेट बैठक में चुनाव आयोग से विधानपरिषद चुनाव कराने की अपील की जानी थी। इसके लिए 3 मई को लॉकडाउन खत्म होने के तुरंत बाद चुनाव आयोग को विधान परिषद की खाली पड़ी सीटों के लिए चुनाव का ऐलान करना होगा।


27 मई से पहले कराना होगा पूरा चुनाव


चुनाव आयोग को 27 मई से पहले चुनाव प्रक्रिया पूरी कर परिणाम घोषित करना होगा, ताकि मुख्यमंत्री निर्वाचित सदस्य के रूप में सदन के सदस्य बन सकें, लेकिन कोरोना संकट को देखते हुए ऐसा संभव होता नहीं दिख रहा। कुर्सी बचाने की उद्धव की राह इतनी आसान नहीं हैं।


जल्दी आत्मनिर्भर होंगे हमः हर्षवर्धन

नई दिल्ली। पृथ्वी विज्ञान मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से जैव प्रौद्योगिकी विभाग (डीबीटी) और उसके स्वायत्त संस्थानों (एआई और उसके सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों) बीआईआरएसी तथा बीआईबीसीओएल द्वारा कोविड संकट से निपटने के लिए विशेष रूप से वैक्सीन, तथा स्वेदशी रैपिड टेस्ट और आरटी पीसीआर नैदानिक किट विकसित करने की दिशा में की गई विभिन्न पहलों की समीक्षा की। उन्होंने समीक्षा के दौरान कहा कि स्वदेशी रैपिड टेस्ट और आरटी-पीसीएस डायग्नोस्टिक किट बनाने के मामले में मई 2020 तक हमारा देश आत्मनिर्भर हो जाएगा। इस दौरान आनुवांशिक अनुक्रमण के बारे में चर्चा करते हुए डॉ. हर्षवर्धन ने कहा कि ये अनुवांशिक अनुक्रमण के प्रयास मुझे 26 साल पहले के पोलियो उन्मूलन अभियान की याद दिलाती है। उस समय भी, पोलियो वायरस के संक्रमण की अवस्थाओं को उजागर करने के लिए आनुवांशिक अनुक्रमण का उपयोग किया गया था, जिसने अंततः पोलियो के उन्मूलन में मदद की।


डॉ. हर्षवर्धन ने 150 स्टार्ट अप्स को दी जा रही मदद के लिए बीआईआरएसी के प्रयासों की भी सराहना की। उन्होंने इस मौके पर बीआईबीसीओएल के एक सार्वजनिक उपक्रम द्वारा बनाया गया हैंडसैनिटाइजर भी जारी किया डॉ. हर्षवर्धन ने कहा, "इस सैनिटाइजर की प्रत्येक बोतल की  बिक्री  से मिलने वाली रकम में से एक रुपया पीएम केयर्स कोष में जाएगा"। वहीं डीबीटी की सचिव डॉ. रेणु स्वरूप ने बताया कि डीबीटी ने कोविड से निपटने के लिए तत्काल समाधान के साथ ही साथ दीर्घकालिक तैयारियों के लिए एक बहु-आयामी अनुसंधान रणनीति और कार्य योजना तैयार की है। इस बहुपक्षीय प्रयासों में कोविड के लिए फ्लू जैसा टीका विकसित करने के साथ ही होस्ट और पैथोजन पर स्वदेशी डायग्नोस्टिक्स जीनोमिक अध्ययन शामिल है। जैव प्रौद्योगिकी उद्योग अनुसंधान सहायता परिषद (बीआईआरएसी) ने डायग्नोस्टिक्स, टीके, नोवेल थैरेप्यूटिक्स, तथा दवाओं को अन्य तरह से इस्तेमाल या किसी और तरह के उपाय अपनाए जाने के लिए एक कोविड अनुसंधान  कंसोर्टियम बनाए जाने की बात कही है।वीडियो कान्फ्रेंसिंग में डीबीटी की सचिव डॉ. रेणु स्वरूप,कई वरिष्ठ अधिकारी ,वैज्ञानिक तथा बीआईआरएसी और बीआईबीसीओएल के भी कई बड़े अधिकारियों ने हिस्सा लिया।
सात दिन, 80 जिले, कोई नया मरीज नहीं


इससे पहले डॉ हर्षवर्धन ने एक राहत की खबर दी। उन्होंने बताया कि एक सप्ताह के दौरान देश के 80 जिलों में एक भी नया केस नहीं आया है। 47 जिले ऐसे हैं, जहां बीते 14 दिन में कोई मामला नहीं मिला है। उन्होंने आगे बताया कि 39 जिलों में 21 दिन से कोई मामला नहीं मिला है। वहीं, बीते 24 घंटे में 16 जिलों में कोई नया केस नहीं आया है। केंद्रीय मंत्री ने बताया, देश के 300 जिले हॉटस्पॉट नहीं है, जबकि 129 जिले कोरोना के मरीज मिलने के बाद हॉटस्पॉट घोषित किए गए हैं।


प्रेगनेंसी में लाभदायक भ्रामरी प्राणायाम

प्रेग्नेंसी में महिलाओं को कई तरह की प्रॉब्लम का सामना करना पड़ता है. मॉर्निंग सिकनेस, ब्लड प्रेशर का कम होना, कभी ब्लड प्रेशर का ज्यादा होना, खून की कमी, रात को नींद न आना, चक्कर जैसी समस्याएं प्रेग्नेंसी में बहुत ही आम मानी जाती है. इन समस्याओं के अलावा प्रेग्नेंसी में महिलाएं स्ट्रेस का शिकार हो जाती हैं. गर्भ में पलने वाले बच्चे को हेल्दी रखने के लिए बहुत ज्यादा जरूरी है प्रेग्नेंट मां को हेल्दी रखना.
बढ़ सकता है गर्भपात का खतरा
एक अध्ययन में यह बात सामने आई है कि प्रेग्नेंसी में ज्यादा तनाव लेने वाली महिलाओं को गर्भपात का खतरा हो सकता है. डॉक्टर्स का भी मानना है कि प्रेग्नेंसी में महिलाओं को स्ट्रेस नहीं लेना चाहिए. मां द्वारा लिया जाने वाला स्ट्रेस बच्चे पर गहरा असर डाल सकता है. प्रेग्नेंसी में तनाव को कम करने के लिए महिलाएं हेल्दी फूड, हेल्दी ड्रिंक्स और कई चीजों का सहारा लेती हैं. लेकिन क्या आप जानते हैं कि प्रेग्नेंसी में महिलाएं भ्रामरी प्राणायाम करें तो भी शरीर को स्ट्रेस फ्री रखा जा सकता है. आइए जानते हैं उस प्राणायाम के बारे में…
कब करें भ्रामरी प्राणायाम
के मुताबिक, प्रेग्नेंट महिलाएं यह प्राणायाम सुबह और शाम दोनों ही वक्त कर सकती हैं. प्राणायाम को करते वक्त ध्यान रहे कि आसपास का वातावरण शांत हो.
कैसे करें भ्रामरी प्राणायाम


भ्रामरी प्राणायाम करने के लिए जमीन पर बैठ जाएं. इसके बाद दोनों हाथों की कोहनियों को मोड़कर कानों तक ले जाएं और अंगूठे के सहारे से कानों को बंद कर लें.


कानों को बंद करने के बाद हाथों की तर्जनी उंगली और मध्यमा, कनिष्का उंगली को आंखों के ऊपर ऐसे रखें जिससे पूरा चेहरा कवर हो जाए. इसके बाद मुंह को बंद करके नाक से हल्की-हल्की सांस को अंदर और बाहर छोड़े.


15 सेकेंड तक ये आसान करने के बाद वापस से नॉर्मल स्थिति में आ जाएं. इस प्राणयाम को 10 से 20 बार दोहराएं. आप चाहे तो शुरुआत में इसे 5 से 10 भी कर सकती हैं.
योग के जानकरों से लीजिए सलाह
प्रेग्नेंसी में प्राणायाम को करने से पहले योग के जानकर या फिर योग गुरू से सलाह अवश्य लें. अगर, आपको किसी तरह की कोई शारीरिक समस्या है या फिर हाथ पैर पूरी तरह से खींच नहीं रहे हैं तो इस प्राणायाम को करने से बचें.


तबलीगी जमात के नोट 'विशेष'

तबलीगी जमात के "नोट" और ईद की खरीददारी


मैं बुरखे में मुँह छिपाकर किसी को बिना बताये घर के पास वाले बाज़ार से ईद के लिये एक सूट लेने के इरादे से निकली ही थी तो घर से थोड़ी दूर एक बुर्खा नशीन खातून मेरे पास आकर मुझे सलाम करके धीरे से बोली बहन दो दिन से घर में किसी ने खाना नही खाया मेरे शोहर मिनी बस ड्रायवर हैं अभी काम बंद है हम लोग तो अच्छे से खाते पीते थे, खर्च करते थे, ये लाक डाऊन हुआ तो कुछ दिन तो जैसे तैसे गुज़र गये पर अब कुछ भी नही बचा और मांगने में बेहद शर्म आती है, करें तो क्या करें(इतना कह कर वो रोने लगी)मैने महसूस किया की वो अपनी बात कहने में बेहद झिझक और शरमा रही थी और जब वो रोई तो उसके रोने में बेइंतेहा शर्म थी,वो तो उसका दर्द रो दिया और वो रोक न सकी,खैर मैने उसे जल्दी से पर्स में से निकालकर 50 रु दिये और  चल दी बाज़ार अपना ईद का जोड़ा लेने।
  बाज़ार में दुकानदार अपने पड़ोसी दुकानदार से बातों में मशगूल था मैने दुकान के लड़के से ईद के लिये एक अच्छा सा सूट निकालने को कहा, लड़का सूट निकाल रहा था तभी मेरे कानों में दुकानदार की आवाज़ पड़ी तो मेरा सारा शोक, शरम से मर गया मेरा ज़मीर मुझ पर लानत मलामत करने लगा। वो दुकानदार अपने पड़ोसी दुकानदार से कह रहा था।
*भाई साहब भारत में तो कोरोना फैलता ही नही वो तो ये तबलीगी जमात ने फैला दिया,मैने खुद देखा है टी.वी.पर खूब दिखाया हर चेनल ने*
यह सुनकर मेरे दिल,दिमाग़ में बहुत से तूफान उठने लगे, मैं उस दुकानदार से कई सवाल करना चाहती थी, लेकिन कर न सकी?
एक खूबसूरत सूट मुझे पसंद आया था लड़के ने 2200 रु बताए लेकिन उसने खुद ही 2000रु कर दिये और बोला आप तो हमेशा के ग्राहक हो आप के लिये रेट अलग ही रहते हैं।
मैने उसके सेठ यानी दुकानदार से पूछा भाई यह 2000रु. बोल रहा है इसके आप सही लगा दो, बहन जी आपसे कभी ज्यादा ले सकते हैं क्या, रेट बिल्कुल सही लगाया लड़के ने 2000रु.।
*मैने बोला ठीक है मेरे पास जो नोट हैं वो तबलीगी जमात वाले नोट हैं, चलेंगे ना आपको कोई एतराज़ तो नही?*
क्या बहन जी नोट तो नोट हैं, भारतीय रिज़र्व बैंक के नोट,भारत सरकार के नोट?
नही भाई मेरे नोट तबलीगी जमात के ही हैं क्योंकी मेरे शोहर तबलीगी हैं, जमात में गये थे दिल्ली में मर्क़ज़ में ही थे जब लाक डाऊन हुआ तब?
तो ये नोट तबलीगी जमात के ही हुए न? भाई मुझे अभी अभी यह एहसास हुआ की यह नोट मुझे आपको नही देना चाहिये क्योंकि यह नोट तो तबलीगी नोट हैं।
सॉरी भाई माफ करना मैं बाद में फिर कभी आऊंगी, इतना कहकर मैं वहाँ से चल दी, अब मेरी आँखें पूरे रास्ते उस खातून को ढूंढ रहीं थी जिसने मुझसे मदद मांगी थी लेकिन वो कहीं नही दिखी।
मैं बेजान सी अपने घर में दाखिल हुई तो देखा मेरे बच्चे उस खातून को खाना खिला रहे हैं।मुझे देखते ही बच्चे बोले अम्मा यह अब्बा के पहचान वालो की एहलिया हैं, अब्बा इनके लिये खाने पीने का समान लेने गये हैं।
ओह....मैनें रब का शुक्र अदा किया-ऐ अल्लाह तूने मेरी सुन ली, नही तो मैं जिंदगी भर खुद को माफ न कर पाती।
इतने में मेरे शोहर आ गये उन्होने सामान की थैली उस खातून को दी और मुझसे मुखातिब होते हुए बोले यह जावेद की एहलिया हैं वही जावेद जो एक साल पहले मेरे साथ जमात में गये थे।
वो खातून दुआएं देती हुई चली गई तो मैने अपने शोहर से पूछा आप सामान कितने का लाये?
2000रु का, क्यों तुम क्यों पूछ रही हो।
मैने उन्हे 2000रु देते हुए कहा इतना ही सामान और ले आइएगा किसी और जावेद के काम आएगा।
मेरे शोहर बोले जब "जावेद"इतना परेशान हाल है तो उसका क्लीनर "शहाब" किस हाल में होगा वो भी हमारा जमात का साथी था।इतना कहकर वो "शहाब" को फोन लगाने लगे और मैं चल दी शुकराने की नमाज़ पढ़ने।


कोरोना योद्धाओं पर हमला, गैर जमानती

लखनऊ। प्रदेश के अलग-अलग जिलों से कोरोना वारियर्स पर हमले की लगातार आ रही ख़बरों के बीच सूबे की योगी सरकार ने एक्शन लेते हुए एपिडेमिक डिजीज एक्ट 1897 में (Epidemic Act 1867) बदलाव किया है। अब यूपी में भी डॉक्टरों, स्वास्थ्यकर्मियों और पुलिस वालों पर हमला गैर जमानती अपराध होगा। गौरतलब है कि केंद्र सरकार की तरह ही यूपी सरकार ने भी कोरोना वारियर्स की सुरक्षा के लिए कड़े कदम उठाए हैं।


एपिडेमिक डिजीज एक्ट 1897 में बदलाव के बाद अब इसे यूपी महामारी कोविड-19 (प्रथम संशोधन) विनियमावली 2020 कहा जाएगा। प्रदेश सरकार के अनुसार एक्ट में शामिल विनियम 15 में संशोधन किया गया है। अब डॉक्टरों, स्वास्थ्यकर्मियों और पुलिस वालों पर हमला करने वालों को 7 से 5 साल की कैद व 50 हजार से दो लाख तक का जुर्माना भी भरना पड़ सकता है। साथ ही गिरफ़्तारी के बाद 6 महीने तक जमानत भी नहीं होगी।


प्रमुख सचिव स्वास्थ्य मोहन प्रसाद ने बताया कि अब इसे यूपी महामारी कोविड-19 (प्रथम संशोधन) विनियमावली 2020 कहा जाएगा। इस विनियमावली को 30 जून तक या अग्रिम आदेश तक लागू करने का निर्णय लिया गया है। उन्होंने बताया कि इस विनियमावली की किसी भी उपबंध का उल्लंघन करने वाले व्यक्ति, संस्था, संगठन आईपीसी (अधिनियम संख्या-45 1860) की धरा 188 के अधीन दंडनीय अपराध माना जायेगा। सक्षम प्राधिकारी ऐसे व्यक्ति संस्था व संगठन को दण्डित कर सकता है।


केंद्र सरकार पहले ही कर चुकी है बदलाव


केंद्र सरकार पहले ही यह बदलाव कर चुकी है। इसके लिए 123 साल पुराने महामारी कानून में बड़ा बदलाव कर हिंसा के लिए सख्त सजा का प्रावधान किया गया है। केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने बुधवार को हुई कैबिनेट बैठक के बारे में कहा है कि डॉक्टरों और स्वास्थ्यकर्मियों पर हो रही हिंसा बर्दाश्त नहीं की जाएगी। इसके लिए केंद्र सरकार अध्यादेश लेकर आई जिस पर राष्ट्रपति के हस्ताक्षर के बाद उसे कानून में बदल दिया गया। केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि स्वास्थ्यकर्मियों पर हिंसा के लिए भारी सजा और भारी-भरकम जुर्माना भी लगाया जाएगा। आरोपियों को तीन महीने से लेकर 5 साल की सजा, 50 हजार से लेकर 3 लाख तक का जुर्माना हो सकता है।


विधि-विधान से खुले केदारनाथ के पट

नई दिल्ली। कोरोना संकट और देश में लॉक डॉउन के बीच बुधवार सुबह 6 बजकर 10 मिनट पर बाबा केदारनाथ मंदिर के कपाट खुल गए। हालांकि लॉकडाउन के चलते मंदिर में फिलहाल श्रद्धालुओं की एंट्री पर बैन है। बता दें कि मंदिर में 15 से 16 पंडितों के बीच ही विधि-विधान से पूजा करके पट खोले गए।


 ऐसा पहली बार हुआ होगा जब मंदिर कपाट खुलने के दौरान यहां भक्तों की लाइन नहीं थी। केदारनाथ धाम के कपाट खुलने के साथ ही उत्तराखंड के चार में से तीन धामों के कपाट खुल गये है। श्री गंगोत्री-यमुनोत्री धाम के कपाट अक्षय तृतीया के अवसर पर 26 अप्रैल को खुल चुके है जबकि श्री बदरीनाथ धाम के कपाट 15 मई को खुलेंगे।


पेट के संक्रमण से इरफान का निधन

मुंबई। बॉलीवुड अभिनेता इरफान खान का निधन बुधवार को हो गया। अभिनेता इरफान खान को मंगलवार को पेट के संक्रमण के बाद शहर के एक अस्पताल की आईसीयू में भर्ती कराया गया था। उनके प्रवक्ता ने मंगलवार को यह जानकारी देते हुए बताया था कि 53 वर्षीय अभिनेता को कोकिलाबेन धीरूभाई अंबानी अस्पताल में भर्ती कराया गया था।


बॉलीवुड के टैलेंटेड अभिनाताओं में शामिल इरफान खान के यूं अचानक चले जाने से उनके फैंस और बॉलीवुड सेलेब्स सदमे में हैं। दो साल पहले मार्च 2018 में इरफान को न्यूरो इंडोक्राइन ट्यूमर नामक बीमारी का पता चला था। विदेश में इस बीमारी का इलाज कराकर इरफान खान ठीक हो गए थे। बता देकि  2018 में इरफान खान को न्यूरोइंडोक्राइन ट्यूमर का पता चला था। लंदन में उनका इलाज चल रहा था। इसके बाद उनकी तबीयत में सुधार होने के बाद वह भारत वापस आ गए थे। बीते दिनों उनकी मां का निधन हो गया था। लॉकडाउन के चलते वह उनके अंतिम संस्कार में शामिल नहीं हो सके थे।


जुलाई तक घर से काम करें आईटी क्षेत्र

नई दिल्ली। केंद्रीय मंत्री रवि शंकर प्रसाद ने मंगलवार को राज्य के सूचना प्रौद्योगिकी (आईटी) मंत्रियों से कहा कि निवेश को बढ़ावा देने वाली पहलों के जरिए इलेक्ट्रॉनिक्स विनिर्माण को बढ़ावा देने की दिशा में तेजी से आगे बढ़ें। उन्होंने कहा कि इलेक्ट्रॉनिक्स विनिर्माण के क्षेत्र में भारत के सामने अपार संभावनाएं हैं और राज्यों को इसका फायदा उठाना चाहिए।


कोरोना वायरस महामारी की पृष्ठभूमि में प्रसाद ने राज्यों के आईटी मंत्रियों के साथ वीडियो-कॉन्फ्रेंस के माध्यम से बातचीत के दौरान यह बात कही। इस बातचीत के बाद उन्होंने संवाददाताओं से कहा कि घर से काम करने की सुविधा के लिए कनेक्टिविटी के नियमों में ढील दी गई है। ये छूट 30 अप्रैल को खत्म होने वाली थी, जिसे अब 31 जुलाई तक बढ़ा दिया गया है। प्रसाद ने कहा कि राज्यों ने आरोग्य सेतु एप की अत्यधिक सराहना की और उन्होंने भरोसा दिया कि फीचर फोन के लिए इसी तरह के समाधान का विकास होगा और उसे जल्द लॉन्च किया जाएगा। केंद्रीय इलेक्ट्रॉनिक्स और आईटी मंत्री ने कहा कि उनका मंत्रालय सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर लगातार फेक न्यूज की निगरानी कर रहा है और उनसे सख्ती से निपटा जा रहा है।


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

यूनिवर्सल एक्सप्रेस    (हिंदी-दैनिक)


अप्रैल 30, 2020, RNI.No.UPHIN/2014/57254


1. अंक-263 (साल-01)
2. बृहस्पतिवार, अप्रैल 30, 2020
3. शक-1943, वैशाख, शुक्ल-पक्ष, तिथि- सप्तमी, विक्रमी संवत 2077।


4. सूर्योदय प्रातः 06:00,सूर्यास्त 06:54।


5. न्‍यूनतम तापमान 21+ डी.सै.,अधिकतम-34+ डी.सै., तेज हवाएं चलने की संभावना।


6.समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा।
7. स्वामी, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहींं है।


8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102।


9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.,201102


https://universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
cont.:-935030275
 (सर्वाधिकार सुरक्षित)


 


सैन्य गठजोड़ ने क्षेत्र पर सवालों को जन्म दिया

बीजिंग/ वाशिंगटन डीसी। चीन के खिलाफ अमेरिका, ब्रिटेन और ऑस्ट्रेलिया के नए सैन्य गठजोड़ ने प्रशांत महासागर क्षेत्र को लेकर ने सवालों को जन्म ...