पुडुचेरी लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
पुडुचेरी लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

गुरुवार, 16 सितंबर 2021

पुडुचेरी: लॉकडाउन की अवधि 30 सितंबर तक बढ़ीं

पुडुचेरी। पुडुचेरी सरकार ने कोरोना वायरस के मद्देनजर लागू लॉकडाउन की अवधि 30 सितंबर तक बढ़ा दी। सरकार ने हालांकि पाबंदियों में कुछ छूट भी दी है। आधिकारिक बयान के मुताबिक मौजूदा समय में रात 10.30 बजे से सुबह 5 बजे तक लागू कोविड कर्फ्यू जारी रहेगा और सामाजिक/मनोरंजन से संबंधित सभाओं पर पूरी तरह से पाबंदी रहेगी।

सरकारी आदेश में कहा गया है कि सभी सरकारी विभाग कार्मिक एवं प्रशासनिक सुधार विभाग द्वारा जारी दिशा-निर्देशों के अनुसार कार्य करेंगे और सचिवों / विभागाध्यक्षों को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि कर्मचारियों को कोविड-19 टीका लगाया गया है। शैक्षणिक संस्थानों ने एक सितंबर से काम करना शुरू कर दिया है और यह जारी रहेगा। सभी दुकानें और अन्य व्यावसायिक प्रतिष्ठान सुबह 9 बजे से रात 10 बजे तक खुले रहेंगे। इस दौरान सुबह पांच बजे से रात 10 बजे तक सब्जी तथा फलों के स्टॉल लगे रहेंगे।

शनिवार, 27 मार्च 2021

वित्तमंत्री निर्मला ने भाजपा का घोषणा पत्र किया जारी

पुडुचेरी। पुडुचेरी विधानसभा चुनाव के मद्देनजर केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने भाजपा का घोषणा पत्र जारी किया। इस दौरान केंद्रीय मंत्री अर्जुन राम मेघवाल, केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह समेत कई पदाधिकारी मौजूद रहे। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बताया कि भाजपा का घोषणा पत्र जनता के सुझावों के बाद तैयार किया गया है। भाजपा नेता ने कहा कि हमने अपना घोषणा पत्र एसी कमरे में बैठकर तैयार नहीं किया बल्कि जनता के सुझावों के आधार पर तैयार किया है और प्रधानमंत्री मोदी वादों को पूरा करते हैं। बता दें कि पुडुचेरी की 30 विधानसभा सीटों के लिए एक चरण में 6 अप्रैल को मतदान होगा और 2 मई को परिणाम घोषित होंगे। उन्होंने कहा कि राहुल गांधी ने इसी धरती पर झूठ बोला था।कि मैं सरकार में आया तो मत्‍स्‍यपालन मंत्रालय बनाऊंगा। मैं बताने आया हूं कि मैं मत्स्यपालन मंत्री हूं और नरेंद्र मोदी मत्स्यपालन के लिए जो काम कर रहे हैं। उससे पुडुचेरी देश में मत्स्यपालन का हब बनेगा।

सोमवार, 22 फ़रवरी 2021

पुडुचेरी में सरकार गिरी, बहुमत नहीं हुआ साबित

पुडुचेरी में कांग्रेस सरकार गिरी, बहुमत नहीं साबित कर पाए सीएम वी. नारायणासामी, उपराज्यपाल से मिलकर त्यागपत्र देंगे।
हरिओम उपाध्याय  
पुडुचेरी। विधानसभा में कांग्रेस अपना बहुमत साबित नहीं कर पाई है। स्पीकर ने ऐलान किया कि सरकार के पास बहुमत नहीं है। इसके बाद मुख्यमंत्री वी. नारायणसामी की विदाई तय हो गई है। गौरतलब है। कि विधानसभा में कांग्रेस के पास उसके 9 विधायकों के अलावा 3 डीएमके और एक निर्दलीय विधायक का समर्थन था। यानी कांग्रेस के पास 12 विधायकों का समर्थन था। जबकि विधानसभा की वर्तमान स्थिति के मुताबिक उसे बहुमत के लिए 14 विधायकों का समर्थन चाहिए था। हालांकि, फ्लोर टेस्ट से पहले मुख्यमंत्री नारायणसामी दावा करते रहे कि उनके पास निर्वाचित विधायकों में से बहुमत है। क्या है विधानसभा का गणित 33 सदस्यीय पुडुचेरी विधानसभा में 30 सदस्य निर्वाचित और 3 सदस्य केंद्र सरकार की ओर से मनोनित होते हैं। 2016 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने 15 सीटें जीती थीं। एक विधायक को पार्टी द्वारा पिछले साल दलबदल विरोधी कानून के तहत अयोग्य घोषित किया गया था। इसके अलावा पांच विधायक अब तक इस्तीफा दे चुके हैं। डीएमके ने कांग्रेस का समर्थन किया है। उसके तीन विधायक थे, लेकिन रविवार को इनमें से एक विधायक ने इस्तीफा दे दिया। रविवार देर शाम तक कांग्रेस गठबंधन के पास 12 विधायकों का समर्थन ही था। जिसमें कांग्रेस के 9, डीएमके के 2 और एक निर्दलीय विधायक शामिल है। छह विधायकों के इस्तीफे और एक अयोग्यता के बाद पुडुचेरी विधानसभा की संख्या 26 है। प्रमुख विपक्षी दल ऑल इंडिया एन आर कांग्रेस, ने 2016 के चुनावों में 8 सीटें जीती थीं। लेकिन उसका एक विधायक अयोग्य घोषित हो गया था। और बाद में इस सीट को डीएमके ने जीत लिया था। यानी अभी एनसीआर के पास 7 विधायक, के पास 4 विधायक हैं। वहीं, बीजेपी के पास 3 मनोनित विधायक हैं। यानी सरकार के समर्थन में 12 विधायक हैं। जबकि विपक्ष में 14 विधायक हैं। कांग्रेस का कहना है। कि उसके पास निर्वाचित विधायकों में से बहुमत है। यानी 23 में 12 विधायक उसके साथ हैं।

शुक्रवार, 8 जनवरी 2021

बैठक में 'डीएम' को पानी की जगह जहर दिया

पुडुचेरी। केंद्रशासित प्रदेश पुडुचेरी में एक डीएम के मीटिंग के दौरान स्टाफ ने पानी की बोतल में जहर दे दिया। ये घटना पुडुचेरी के डीएम पुरवा गर्ग के साथ उस वक्त हुई, जब वे एक मीटिंग ले रहे थे। ये जहरीला तरल पदार्थ पानी की तरह पारदर्शी तो था ही बोतल के बाहर से बिल्कुल पानी की तरह ही दिख रहा था।

इस घटना के बारे में पुडुचेरी के राजस्व और आपदा प्रबंधन विभाग के विशेष अधिकारी ने नजदीक में स्थित डी -नगर पुलिस स्टेशन को एक पत्र लिखकर सूचित किया गया है। जिसमें घटना के बारे में विस्तार से बताया गया है। इस पत्र में लिखा है कि 6 जनवरी को करीब 11 बजकर 45 मिनट पर डीएम कार्यालय में एक ऑफिशियल मीटिंग चल रही थी। तभी कार्यालय के स्टाफ द्वारा डीएम को पानी की ऐसी बोतल मुहैया कराई गई। जिसमें पानी की जगह जहरीला तरल पदार्थ था, जो दिखने में पारदर्शी था।पत्र में ये भी लिखा है कि 1 लीटर की स्विस फ्रेश नाम के ब्रांड की बोतल को साथ में भेजा जा रहा है। जिसकी जांच करके आवश्यक कार्रवाई की जाए।

इसी मसले पर पुडुचेरी की उपराज्यपाल किरण बेदी ने ट्विटर पर लिखा कि पुडुचेरी के कलेक्टर आईएएस पुरवा गर्ग को उनके कार्यालय में स्टाफ द्वारा एक पानी की बोतल के रूप में पारदर्शी जहरीला तरल पदार्थ मुहैया कराया गया। इस मामले में एफआईआर रजिस्टर कर ली गई है। डीजीपी बालाजी श्रीवास्तव ने इस मामले में विशेष जांच करने के लिए आदेश दे दिये हैं।

दोनों देशों से अपने राजदूतों को वापस बुलाया

वाशिंगटन डीसी/ पेरिस। अमेरिका के सबसे पुराने सहयोगी फ्रांस ने परमाणु पनडुब्बी सौदा रद्द करने पर अप्रत्याशित रूप से गुस्सा दिखाते हुए अमेरिका...