मंगलवार, 8 जून 2021

सही सूचना देने के लिए दबाव डालता रहेगा 'यूएसए'

वाशिंगटन डीसी। अमेरिका अपने अंतरराष्ट्रीय सहयोगियों के साथ मिलकर चीन पर कोरोना की उत्पत्ति को लेकर पारदर्शिता बरतने और सही सूचना देने के लिए दबाव डालता रहेगा। अमेरिका के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जैक सुलिवन ने कहा कि इसके साथ ही हम अपनी जांच प्रक्रिया भी जारी रखेंगे। अमेरिका का यह बयान ऐसे समय आया है, जब चीन ने सोमवार को अमेरिका की मुआवजा की मांग को खारिज कर दिया था। व्हाइट हाउस में संवाददाताओं से बात करते हुए सुलिवन ने कहा, हम अपने अंतरराष्ट्रीय सहयोगियों के साथ चीन पर पारदर्शिता बरतने के लिए दबाव डालते रहेंगे। चीन ने कहा है कि वह इस प्रक्रिया भी शामिल नहीं होगा, उसे हम स्वीकार नहीं करेंगे। 

उन्होंने कहा कि राष्ट्रपति जो बाइडन पद संभालने के बाद अपनी पहली विदेश यात्रा के दौरान अंतरराष्ट्रीय नेताओं के साथ इस मुद्दे पर भी बातचीत करेंगे। इस बीच, अमेरिकी विदेश मंत्री टोनी ब्लिंकन ने सांसदों की बैठक में कहा कि कोरोना वायरस की उत्पत्ति के दो स्रोत हो सकते हैं। पहला यह कि इसका निर्माण प्रयोगशाला में किया गया हो सकता है। दूसरा, इसकी उत्पत्ति प्राकृतिक रूप से भी हो सकती है। विदेशी मामलों की समिति के सदस्य स्टीव कैबट के एक सवाल के जवाब में ब्लिंकन ने कहा कि राष्ट्रपति बाइडन ने इस मामले में विस्तृत जांच के आदेश दिए हैं।


समस्याओं को दूर कराने के लिए एक ओर पहल की

अश्वनी उपाध्याय                 

गाजियाबाद। शहर की समस्याओं को दूर कराने के लिए नगर आयुक्त ने एक ओर पहल की है। जिसके तहत कोरोना संक्रमण की रफ्तार धीमी होने और लॉकडाउन हटने के बाद उन्होंने कैंप कार्यालय पर जोनवार 10-10 पार्षदों के साथ विभिन्न मुद्दों पर बातचीत की। इस दौरान क्षेत्रवार सभी विभाग के अधिकारी भी मौजूद रहे। बैठक में पार्षदों के सुझाव लिए गये। मंगलवार को अपने कैंप कार्यालय पर नगर आयुक्त महेंन्द्र सिंह तंवर ने 10 पार्षदों के साथ बैठक का आयोजन करते हुए विभिन्न मुद्दो पर बातचीत कर सुझाव लिए और उनकी समस्याएं सुनी। 

नगर आयुक्त ने कहा कोरोनाकाल के चलते पार्षदों के साथ बैठक नही हो पा रही थी। सिटी जोन से पार्षद राजेंद्र तितोरिया, वार्ड-8 से माया देवी, वार्ड-6 से पार्षद संघदीप तोमर, वार्ड-9 से विनोद कुमार, वार्ड-11 से जाकिर सैफी, वार्ड-95 से पार्षद अपनी समस्याओं को नगर आयुक्त के सामने रखा। निगम के विभिन्न विभागध्यक्ष भी बैठक में उपस्थित रहे। एक-एक कर कर क्षेत्र की समस्याओं को पार्षदों द्वारा अधिकारियों के सामने रखा गया तथा अधिकारियों ने प्रत्येक समस्या को नोट कर जल्द उनका समाधान करने की बात कहीं।

हापुड़: साफ-सफाई की व्यवस्था पर डीएम की बैठक

अतुल त्यागी                   
हापुड़। आज जिलाधिकारी अनुज सिंह ने जूम के माध्यम से कोविड-19 महामारी व जनपद की साफ-सफाई की व्यवस्था को लेकर अपने कार्य कक्ष में जूम के द्वारा बैठक कर रहे थे। जिलाधिकारी ने सभी अधिशासी अधिकारी नगर पालिका परिषद, समस्त खंड विकास अधिकारियों व जिला पंचायत राज अधिकारी को जनपद के नालो व ग्रामीण क्षेत्रों में कूड़े के ढेर के तुरंत निस्तारण हेतु निर्देशित किया तथा क्लस्टर सिस्टम बना कर सफाई करने के निर्देश सभी खंड विकास अधिकारियों को दिए। उन्होंने कहा कि इस कार्य में खंड विकास अधिकारीगण उप जिलाधिकारियों का सहयोग लेते हुए प्राथमिकता पर सफाई कराएं। शहरी क्षेत्रों की सफाई का निरीक्षण अपर जिलाधिकारी द्वारा किया जाएगा। मुझे आदर्श गांव दिखने चाहिए। बाबूगढ़ के बछलौता गांव में गंदगी का ढेर देखकर जिलाधिकारी संबंधितो पर नाराज दिखे। 
उन्होंने कहा कि अधिकारीगण सफाई की रेंडम चेकिंग कराएं। सेक्रेटरी व लेखपाल गांव में रहे। कोविड-19 महामारी की रोकथाम हेतु चलाए जा रहे टीकाकरण अभियान के बारे में जिलाधिकारी को टीकाकरण अधिकार ने अवगत कराया कि टीको को लेकर ग्रामीणों में भ्रम की स्थिति है। ग्राम प्रधान टीके लगवाने हेतु गांव में अलाउंसमेन्ट कराए। निगरानी समितियां गांव में भ्रमण कर ग्रामीणों को टीका लगवाने के लिए जागरूक करें। सभी ग्राम प्रधानों के माध्यम से मैसेज जाए। अल्पसंख्यक, बाहुल्य गांव में टीकाकरण में बहुत समस्या आ रही है। 
जिलाधिकारी ने मुख्य चिकित्सा अधिकारी से कहा कि कोरोना टेस्टिंग रुकनी नहीं चाहिए टीकाकरण में वृद्धि के हर संभव प्रयास हो। 20 से 25 जून तक सभी पी एच सी व सी एच सी अपडेट हो जाये। बैठक में मुख्य विकास अधिकारी उदय सिंह अपर जिलाधिकारी जय नाथ यादव मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ रेखा शर्मा समस्त खंड विकास अधिकारीगण, अधिशासी अधिकारी नगर पालिका परिषद/ नगर पंचायत बाबूगढ़ सहित संबंधित अधिकारी उपस्थित रहें।

गरीबों को भोजन व फल का किया जाएगा वितरण

बृजेश केसरवानी                
प्रयागराज। अखिल भारतीय उद्योग व्यापार मंडल के राष्ट्रीय अध्यक्ष पूर्व राज्य मंत्री माननीय संदीप बंसल का जन्मदिन 9 जून को सेवा संकल्प दिवस के रूप में जनपद का व्यापारी मनाएगा। जानकारी देते हुए प्रांतीय संगठन मंत्री जिला अध्यक्ष रमेश केसरवानी ने बताया कि तहसील बारा, तहसील मेजा, तहसील करछना, तहसील सोरांव, के अलावा लालगोपालगंज के व्यापारी, के साथ-साथ शहर में नकाश कोना, खुल्दाबाद, चौक जॉनसन गंज, मुट्ठीगंज, कीडगंज, सिविल लाइंस, कटरा, के अध्यक्ष द्वारा अपने-अपने क्षेत्रों में गरीबों को भोजन व फल का वितरण किया जाएगा। इसके अलावा महिला व्यापार मंडल द्वारा सरकारी अस्पतालों में फल एवं जरूरी वस्तुओं के चीजें वितरण किया जाएगा। तैयारी हेतु बैठक जान शंकर में संपन्न हुई।

लोगो को फ्री वैक्सिनेशन देने पर आभार व्यक्त किया

राणा ओबराय                   
पंचकूला। हरियाणा मुख्यमंत्री मनोहरलाल ने प्रेसवार्ता में बताया कि कल प्रधानमंत्री ने जो घोषनाये वैक्सिनेशन के लिए की है। 75 फीसदी वैक्सिनेशन भारत सरकार खरीदेगी, जो राज्यो को मुफ्त में दी जाएगी। उन्होंने कहा 21 तारीख से तमाम लोगो को वैक्सिनेशन फ्री देने पर पीएम का आभार व्यक्त करता हूँँ। सीएम ने कहा दीपावली तक सभी गरीब परिवारों को मुफ्त राशन की घोषणा को लेकर भी पीएम का आभार व्यक्त करता हूं।उन्होंने कहा नीति आयोग की 2020 की रिपोर्ट में हरियाणा मोस्ट परफार्मिंग स्टेटस में बड़े राज्यों में हरियाणा का नाम प्रथम आया है। 15 कैटगरी में 8 में हरियाणा 65 फीसदी से ऊपर है। अफोर्डेबल क्लीन एनर्जी के लिए भी हरियाणा नम्बर 1 पर है।

मीडिया पॉलिसी को लेकर बातचीत, उन्मुक्त विचार

राणा ओबराय                 
चंडीगढ। हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने सही वक्त पर बेहतरीन निर्णय लेते हुए वरिष्ठ पत्रकार विनोद मेहता को अपना प्रधान मीडिया सलाहकार बनाना उनकी अच्छी सोच को दर्शाता है। यूं तो उनके पास पहले से ही मीडिया सलाहकार अमित आर्या अच्छे तरीके से कामकाज को संभाल रहे है। कल शाम सम्पादक राणा ओबराय व प्रधान मीडिया सलाहकार विनोद मेहता की सरकार के कामकाज औऱ मीडिया पॉलिसी को लेकर खास बातचीत हुई। विनोद मेहता ने एक सवाल के जवाब में बताया मेरा लक्ष्य सरकार द्वारा किए जा रहे कार्यों को मीडिया के जरिए जन-जन तक पहुंचाना है। उन्होंने बताया मेरे मीडिया साथियों के सामने आ रही उनकी दिक्कतों को दूर करना ही मेरी पहली प्राथमिकता है।

कौशाम्बी: विकास कार्यों का भ्रमण, निरीक्षण किया

कौशाम्बी। विधायक चायल संजय कुमार गुप्ता ने नगर पालिका परिषद भरवारी के वार्ड नंबर 17 सरजू दास नगर (धरकर बस्ती) खलीलाबाद और रोही के विकास कार्यों के भ्रमण के दौरान निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान उन्होंने कार्रवाई संस्थाओं को कठोर शब्दों में चेतावनी दी है और उन्होंने कहा कि निर्माण कार्यों की गुणवत्ता से समझौता नहीं होगा। निरीक्षण के दौरान रोही गांव में रैदास मोहल्ले में पक्का चबूतरा व अंबेडकर की मूर्ति बनाने हेतु आर्थिक सहयोग किया व साथ ही मोहल्ले में नाली और इंटरलॉकिंग सड़क बनाने हेतु और खराब हैंडपंपों की मरम्मत कराने तथा रिबोर संबंधित और जिस मोहल्ले में पेय जल हेतु समस्या है। वहां पर नया हैण्डपम्प स्थापित करने हेतु अधिशासी अधिकारी नगर पालिका गिरीश चंद्र को निर्देशित किया कि एक सप्ताह के भीतर अति शीघ्र कार्य शुरू करा दिए जाए।इस मौके पर मुख्य रूप से साहबजादे तहददुर रहमान सभासद जका अहमद कादिर अली अरुण गुप्ता मिथलेश कुमार, वेदांत उपाध्याय, अशोक केशरवानी आदि लोग उपस्थिति रहे।
गणेश साहू 

14 दिन की बच्ची को ब्लैक फंगस, पहला मामला

आगरा। जिलें में 14 दिन की बच्ची को ब्लैक फंगस होने के बाद डॉक्टरों ने सफल ऑपरेशन करके उसकी जान बचा ली है। इतने छोटे बच्चे में ब्लैक फंगस का यह देश का पहला मामला बताया जा रहा है। एसएन मेडिकल कॉलेज के नोडल अधिकारी डॉ. अखिल प्रताप ने बताया कि हाथरस निवासी एक परिवार में 14 दिन पूर्व इस बच्ची का जन्म हुआ था। जन्म के बाद बच्ची की तबीयत खराब थी और उसे निजी अस्पताल के एनआईसीयू में भर्ती किया गया था। इस दौरान बच्ची के गाल पर काला दाग नजर आ रहा था। शनिवार को बच्ची के परिजन उसे लेकर आगरा के एसएन मेडिकल  कॉलेज लाए थे। बच्ची की हालत को देखते हुए डॉक्टरों ने उसे भर्ती कर लिया और ऑपरेशन की बात कही। परिजनों की रजामंदी के बाद सोमवार को उसका सफल ऑपरेशन किया गया। 
उन्होंने बताया कि बच्ची की आंख का ऑपरेशन  मेडिकल कॉलेज के ईएनटी विभाग की टीम ने किया। बच्ची अब खतरे से बाहर है। विशेषज्ञ डॉक्टर उसकी देखरेख कर रहे हैं। कोविड की दूसरी लहर में पोस्ट कोविड कॉम्प्लिकेशन के दौरान फंगस की बीमारी के मरीज सामने आ रहे हैं। पूरे देश में इतनी कम उम्र की बच्ची का यह पहला मामला सामने आया है। बच्ची फिलहाल बीमारी से मुक्त है पर अभी उसका विशेष ध्यान रखा जा रहा है। बच्ची के संपर्क में लगातार रहने के चलते निजी अस्पताल और परिवार के लोगों को जरूरी हिदायत दी गई है। वर्तमान में एसएन मेडिकल कॉलेज में फंगस के 40 मरीज भर्ती हैं। जिनमें से 32 में पुष्टि हो चुकी है और 8 मामले अभी संदिग्ध हैं। डॉ. अखिल प्रताप ने बताया कि बच्ची की तबीयत ठीक हो जाने के बाद एक और सर्जरी की जाएगी। उसकी उम्र अभी बहुत कम है, इसलिए सर्जरी के बाद बड़े होने पर उसके चेहरे पर न के बराबर निशान ही रहेंगे। 

पाक: परिवार के 4 लोगों की मौत पर प्रतिक्रिया दी

इस्लामाबाद। पाकिस्तानी लोगों के प्रति दूसरे देशों में नफरत किस कदर बढती जा रही है। जब शाम को टहलने निकले एक पाकिस्तानी परिवार पर एक कनाडाई नागरिक ने अपना ट्रक चढा दिया। इस घटना में पाकिस्तानी परिवार के चार लोगों की मौत हो गयी है। घटना पर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान सहित अन्य नेताओ ने अपनी अपनी प्रतिक्रिया दी है। घटना रविवार की शाम की है, जब पाकिस्तानी मूल का एक परिवार अपने पांच सदस्यों के साथ टहलने निकला था। उसी समय एक 20 वर्षीय कनाडाई यूवक ने इस परिवार पर अपना पिकअप ट्रक चढा दिया। 

बताया जाता है। इस घटना मे परिवार के पांच मे से चार सदस्यों की मौत हो गयी। हालाकिं घटना के बाद कुछ ही दूरी पर पुलिस ने हमलावर को गिरफतार कर लिया है। घटना पर पुलिस का मानना है कि घटना पूर्व नियोजित थी पाकिस्तानी परिवार को उसके धार्मिंक आस्था के कारण मारा गया है। वही कनाडा के राष्ट्पति ने इस घटना पर दुख व्यक्त करते हुए कहा कि उन्हें इस घटना से बहुत दुख है। उन्होनें कहा कि हम लंदन तथा देश के अन्य हिस्सो मे रहने वाले मुस्लिमों के साथ खडे हैं। इस तरह की घटनाओं की हमारे देश में कोई जगह नही है। इसे रूकना ही होगा।

पीएम आवास योजना के तहत शहरों में बन रहें मकान

अकांशु उपाध्याय                

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत शहरों में जिस रफ्तार से मकान बन रहे हैं। उनसे निर्धारित अवधि में 1.12 करोड़ मकान बनाने का लक्ष्य पूरा होना मुश्किल है। देश के गरीब, अल्प व मध्यम आय वर्ग के लोगों की आवास संबंधी जरूरतों को पूरा करने के लिए सरकार ने जून, 2015 में प्रधानमंत्री आवास योजना का ऐलान किया था। इसके तहत देश 31 मार्च, 2022 तक 2 करोड़ किफायती मकान बनाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया था। लेकिन बाद में शहरों और गांवों की अलग-अलग आवश्यकताओं को देखते हुए स्कीम को पीएमएवाइ-शहरी और पीएमएवाइ-ग्रामीण दो भागों में बांट दिया गया। 

पीएमएवाइ-शहरी के तहत 1.12 करोड़ मकान बनाने का लक्ष्य रखा गया है। स्कीम की समीक्षा से पता चलता है कि शुरुआत के दो साल तो योजना की तैयारी में ही निकल गए थे। जबकि अंतिम दो सालों में कोरोना ने गड़बड़ कर दी। नतीजन अभी तक केवल लगभग 42 लाख मकान ही बन पाए हैं। जबकि 70 लाख में निर्माण कार्य शुरू हुआ है। हालांकि सरकार का पोर्टल इससे ज्यादा आंकड़े दिखा रहा है। लेकिन उसमें पुरानी एनआरयूएम स्कीम के आंकड़े जोड़ दिए गए हैं। लेकिन स्कीम की वास्तविक प्रगति का अंदाजा पोर्टल में ही दिए गए वित्तीय आंकड़ों को देखकर आसानी से लगाया जा सकता है।

दूसरी लहर कमजोर, अनलॉक की प्रक्रिया शुरू की

अकांशु उपाध्याय                   

नई दिल्ली। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में 0.44 प्रतिशत की संक्रमण दर के साथ कोविड​​-19 के 316 नए मामले सामने आए और 41 मौतें हुईं। मंगलवार को जारी स्वास्थ्य बुलेटिन में यह जानकारी दी गई। कोरोना वायरस के नए मामलों की संख्या और संक्रमण दर में सोमवार के आंकड़ों से थोड़ी वृद्धि देखी गई। कोरोना वायरस की दूसरी लहर कमजोर होने के बाद दिल्ली सरकार ने अनलॉक की प्रक्रिया शुरू की। जिसमें मॉल के साथ ही सोमवार से सम-विषम आधार पर बाजारों को खोलने की अनुमति दी गई। 

सोमवार को जारी स्वास्थ्य बुलेटिन के अनुसार, दिल्ली में कल कोविड​​-19 संक्रमण के 231 मामले आए थे, जो दो मार्च के बाद से सबसे कम है। जब संक्रमण दर 0.36 प्रतिशत थी। 36 मौतें हुई थी। नवीनतम बुलेटिन में कहा गया है कि एक दिन में 41 और लोगों की संक्रमण से मौत हुई जिससे यहां मरने वालों की संख्या बढ़कर 24,668 हो गई। रविवार को दिल्ली में 34 मौतें हुई थी, जो लगभग दो महीनों में सबसे कम थी और 0.5 प्रतिशत की संक्रमण दर के साथ 381 मामले आए थे।

लोगों ने 'ऑक्सीजन' की बुरी तरह किल्लत झेली हैं

अकांशु उपाध्याय                      

नई दिल्ली। कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव एवं उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गांधी वाड्रा ने सोमवार को पीएम द्वारा देश के नाम दिए गए संबोधन में लोगों को भ्रामक जानकारी देने का आरोप लगाया है। कोरोना काल में लोगों ने ऑक्सीजन की बुरी तरह किल्लत झेली है। जबकि पीएम अब उस समय देश में ऑक्सीजन की कमी होने से अभी तक भी इंकार कर रहे है। 

मंगलवार को अपने फेसबुक अकाउंट पर जिम्मेदार कौन अभियान की अगली कड़ी की पोस्ट में कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव एवं उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गांधी वाड्रा ने कहा है कि सोमवार को पीएम ने अपने संबोधन में कहा है कि मैंने ऑक्सीजन की कमी नहीं होने दी। उधर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ कह रहे हैं कि ऑक्सीजन की कोई कमी नहीं है और प्रदेश में ऑक्सीजन की कमी की अफवाह फैलाने वालों की संपत्ति जब्त होगी। प्रदेश सरकार के मंत्री कह रहे हैं कि मरीजों को जरूरतभर ही ऑक्सीजन दे। 

ज्यादा ऑक्सीजन ने दें। दूससी आगरा के अस्पताल में कोरोना संक्रमण की पहली लहर के कहर के दौरान ऑक्सीजन खत्म थी और 22 मरीजों की ऑक्सीजन बंद करके मॉकड्रिल की गई। आखिर इसके लिए कौन जिम्मेदार है? कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने कहा है की कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर की भयावह होती स्थिति के दौरान देश के लोगों ने ऑक्सीजन की कमी झेली है और ऑक्सीजन के अभाव में अपनों को अपनी आंखों के सामने मरते हुए देखा है। इसके बावजूद देश के पीएम और उत्तर प्रदेश के सीएम योगी लोगों को भ्रामक जानकारी देते हुए अपनी जिम्मेदारी से बचने का प्रयास कर रहे हैं।

15 गाड़ियों को भेजकर आग बुझाने के काम में लगाया

विजय भाटी                  

गौतमबुद्ध नगर। सूरजपुर स्थित औद्योगिक क्षेत्र में एक केमिकल फैक्ट्री में लगी आग ने थोड़ी ही देर में विकराल रूप धारण कर लिया। आग इतनी जबरदस्त थी कि देखते ही देखते उसने पूरी फैक्ट्री को अपनी चपेट में ले लिया। जानकारी मिलते ही दमकल की दर्जनभर से भी अधिक गाड़ियां मौके पर पहुंची। घंटों तक पानी बरसाने के बाद आग पर पाया काबू पाया जा सका। अभी तक किसी के आग की चपेट में आकर घायल होने या हताहत होने की सूचना नहीं है। गलवार की सवेरे ग्रेटर नोएडा के सूरजपुर औद्योगिक क्षेत्र में स्थित एक केमिकल फैक्ट्री में आग लग गई। 

जिसने देखते ही देखते भीषण रूप धारण करते हुए समूची फैक्ट्री को अपनी चपेट में ले लिया। आसमान में उठते हुए धुंए के बादलों व आग की लपटों को देखकर आसपास के लोगों में दहशत पसर गई। औद्योगिक क्षेत्र की अन्य फैक्ट्रियों में काम कर रहे लोग भी बाहर आ गए। मामले की जानकारी तुरंत ही दमकल विभाग को दी गई। दमकल विभाग ने 15 गाड़ियों को मौके पर भेजकर आग बुझाने के काम में लगाया। गौतमबुद्धनगर के सीएफओ अरुण कुमार सिंह ने बताया कि आज सवेरे औद्योगिक क्षेत्र की साइट सी में आग लगने की सूचना मिली थी। मौके पर पहुंची दमकल की टीम ने देखा कि आग केमिकल फैक्ट्री में लगी हुई है। दमकल विभाग की 15 गाड़ियों ने भीषण लपटों के बीच कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पा लिया है। इस हादसे में किसी की जनहानि नहीं हुई है। आग लगने के कारणों का अभी पता नहीं चल सका है। माना जा रहा है कि आग लगने की वजह शार्ट सर्किट हो सकती है।

परीक्षा शुल्क वापस न किए जाने का कोई कारण नहीं

हरिओम उपाध्याय                   

लखनऊ। प्रदेश माध्यमिक शिक्षक संघ के कार्यकारी अध्यक्ष रमेश सिंह ने उप-मुख्यमंत्री व शिक्षामंत्री को पत्र लिखकर मांग की है कि बोर्ड परीक्षा को निरस्त कर दिए जाने के बाद परीक्षार्थियों का परीक्षा शुल्क वापस न किए जाने का कोई कारण नहीं दिखाई देता। जब परीक्षाओ के आयोजन पर होने वाले अधिकांश व्यय बच गये हों तो निश्चित रूप से परीक्षार्थियों का शुल्क उनके बैंक खातों में बोर्ड द्वारा अंतरित किया जाना चाहिए।

मंगलवार को प्रदेश माध्यमिक शिक्षक संघ क कार्यकारी अध्यक्ष रमेश सिंह ने कहा कि परीक्षा शुल्क किसी भी दशा में एकमुश्त विद्यालयों को न दिया जाये। क्योंकि इससे उस धनराशि के दुरुपयोग होने की संभावना से इन्कार नहीं किया जा सकता। चूंकि छात्रवृत्ति हेतु अधिकांश परीक्षार्थियों के बैंक खाते खुले हुए हैं। जिसका पूरा लेखा-जोखा न केवल विद्यालय बल्कि विभाग के पास उपलब्ध है। इसलिए सम्बन्धित परीक्षार्थियों के खातों में शुल्क वापस करने में कोई कठिनाई भी नहीं है। 

जिन परीक्षार्थियों के बैंक खाते उपलब्ध न हों, सम्बन्धित विद्यालयों के माध्यम से उनका बैंक खाता खुलवाते हुए उनका परीक्षा शुल्क वापस करने की व्यवस्था की जाय।उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षक संघ का यह स्पष्ट मानना है कि बोर्ड परीक्षाओं के आयोजन हेतु की गयी तैयारियों पर हो चुके छोटे-मोटे व्यय काटकर शेष परीक्षा शुल्क वापस पाना परीक्षार्थियों का मौलिक अधिकार है और बोर्ड द्वारा उन्हें इस अधिकार से वंचित नहीं किया जा सकता। यदि परीक्षा शुल्क वापस करने में किसी तरह की आनाकानी बोर्ड या विभाग द्वारा की जाती है तो उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षक संघ सड़क से लेकर न्यायालय तक इस लड़ाई को लड़ने के लिए विवश होगा जिसका सम्पूर्ण उत्तरदायित्व बोर्डध् विभाग एवं सरकार पर होगा।

बंगाल: आकाशीय बिजली गिरने से 26 की मौंत

अकांशु उपाध्याय                 

नई दिल्ली। इन दिनों देश के अलग-अलग राज्यों में बारिश हो रही है। मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ कर्नाटक, तमिलनाडु, झारखंड, ओडिशा और गुजरात के कुछ हिस्से में आंधी के साथ मध्यम से तेज बारिश हुई है। वहीं यूपी और राजस्थान में तेज आंधी तूफान के साथ छिटपुट बारिश का दौर चला। यूपी के बाराबंकी में सोमवार शाम तेज बारिश आंधी तूफान और ओलावृष्टि से काफी नुकसान देखने में आया है। वहां पर तूफान के कारण एक महिला के घर की दीवार उसके ऊपर गिर गई। इस हादसे में 65 वर्षीय बुजुर्ग महिला की मौत हो गई। कई जगहों पर पेड़ गिरे और फसलों को काफी नुकसान पहुंचा है। झारखंड में भी इन दिनों आकाशीय बिजली गिरने के कारण 3 लोगों की मौत की सूचना आई है। 

दरअसल झारखंड के रामगढ़ जिले के वेस्ट बोकारो ओपी क्षेत्र के लाइओ पंचायत के घोसी गांव में बिजली गिरने से तीन व्यक्ति की मौत की सूचना मिली है। जिसमें दो युवक गंभीर रूप से घायल हो गए। इस वज्रपात के शिकार हुए तीनों युवकों के नाम अभिषेक महतो, गौतम कुमार और आलोक महतो बताए जा रहे हैं। सबसे ज्यादा आकाशी बिजली से मौत पश्चिम बंगाल में हुई है। जहां पर पश्चिम बंगाल के तीन जिलों में अब तक 26 लोगों की मौत की सूचना मिली है। पश्चिम बंगाल के हुगली में सबसे ज्यादा आकाशीय बिजली गिरने से 11 लोगों की मृत्यु हुई है।वहीं मुर्शिदाबाद में 9 लोगों की आकाशीय बिजली से मृत्यु हुई है। पूर्वी और पश्चिमी मिदनापुर और बांकुरा में दो-दो लोगों की मृत्यु की सूचना प्राप्त हुई है। प्रधानमंत्री मोदी ने मृतकों के परिवार वालों को 2-2 लाख के मुआवजा देने का ऐलान किया है।

36 जिलों में बरसात व तेज हवाओं का अलर्ट जारी

दुष्यंत सिंह टीकम   

रायपुर। छत्तीसगढ़ के 23 जिलों में गरज चमक के साथ अंधड चलने और आकाशीय बिजली गिरने की सम्भावना है। मौसम विभाग ने अलर्ट जारी किया है। जिन जिलों में अलर्ट जारी किया गया है, उनमें सरगुजा, सूरजपुर, बलरामपुर, जशपुर, पेण्ड्रा, मुंगेली, बिलासपुर, कोरबा, कवर्धा, बेमेतरा, बलौदाबाजार, राजनांदगाँव, दुर्ग, रायपुर, बालोद, धमतरी, कांकेर नारायणपुर, कोण्डागांव, बीजापुर, दन्तेवाड़ा, बस्तर और सुकमा शमिल है।

एक द्रोणिका माध्य समुद्र तल पर पूर्वी उत्तर प्रदेश से बंगाल की खाड़ी तक स्थित है। दूसरा द्रोणिका उप हिमालयन पश्चिम बंगाल से दक्षिण छत्तीसगढ़ तक स्थित है। प्रदेश में अरब सागर से प्रचुर मात्रा में नमी आ रही है। इन सब परिस्थितियों के कारण प्रदेश में कल अनेक स्थानों पर हल्की से मध्यम वर्षा होने अथवा गरज चमक के साथ छींटे पड़ने की संभावना है। प्रदेश में एक-दो स्थानों पर गरज चमक के साथ अंधड़ चलने तथा आकाशीय बिजली गिरने की संभावना है प्रदेश में अधिकतम तापमान में मामूली गिरावट के साथ विशेष परिवर्तन होने की संभावना नहीं है।

सीएम के लिए छह विधायक सीट छोड़ने को तैयार

पंकज कपूर   

देहरादून। पौड़ी लोकसभा सीट से 6 विधायक मुख्यमंत्री के लिए सीट छोड़ने के लिए तैयार है, जिनमें निर्दलीय विधायक भी शामिल है, और सीट छोड़ने के लिए मुख्यमंत्री को लिखित पत्र दे चुके हैं। बता दें कि, मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत को 10 सितम्बर से पहले विधायकी का चुनाव जीतकर आना है, जिसके लिए मुख्यमंत्री को किसी भी एक विधानसभा सीट से उप चुनाव जीतकर आना होगा। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक ने बताया कि, अब तक 6 विधायकों ने उन्हें लिखित में सीट छोड़ने के लिए पत्र दिया है। जिसमें एक निर्दलीय विधायक भी है।

यह भी बता दें कि, सीट छोड़ने वालों में सबसे बड़ा नाम कैबिनेट मंत्री हरक सिंह रावत का है, जिन्होने मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत के लिए मुख्यमंत्री की शपथ लेने के दिन ही बीजेपी हाईकमान को कोटद्धार विधानसभा सीट छोड़ने के लिए अवगत करा दिया था। मीडिया में भी बयान देकर हरक ने सीएम तीरथ के लिए सीट छोड़ने के लिए कह दिया है। लैंसडान से भाजपा विधायक दिलिप रावत, यमकेश्वर से ही भाजपा विधायक रितू खंडूरी और बद्रीनाथ से भाजपा विधायक महेंद्र भट्ट, धर्मपुर विधायक विनोद चमोली और भीमताल से निर्दलीय विधायक राम सिंह कैंडा भी सीट छोड़ने के लिए तैयार है।

परिवार के 4 सदस्यों ने फांसी लगाकर आत्महत्या की

आदर्श श्रीवास्तव   
शाहजहांपुर। जिले में एक ही परिवार के 4 लोगों ने संदिग्धवस्था में फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली। बताया गया कि शहर कोतवाली क्षेत्र के कच्चे कटरा मोहल्ले में रहने वाले दवा कारोबारी अखिलेश गुप्ता 43 वर्ष, पत्नी रिशु गुप्ता 40,बेटे शिवांग 12 वर्ष और बेटी हर्षिता 10 वर्ष के शव फंदे से लटके मिले। पुलिस के अनुसार उनके किसी परिचित ने जब फोन किया तो कोई जवाब न मिलने पर वह अखिलेश के घर पहुंच गया। वहां का दृश्य देखकर उसने पुलिस को सूचना दी। 
मौके पर एक पत्र भी मिला है जिसमें आर्थिक तंगी एवं कर्ज से परेशान होने के चलते आत्महत्या जैसा कदम उठाने की बात लिखी गई है। आशंका जताई गई कि दंपति ने पहले अपने दोनों बच्चों को अलग-अलग फांसी पर लटकाया और उसके बाद खुद भी फांसी लगा ली, सीओ सिटी के अनुसार सुसाइड लेटर में आर्थिक तंगी का जिक्र किया गया है।बताया गया कि कच्चा कटरा मोहल्ले में दीवाली पर ही दवा कारोबारी अखिलेश गुप्ता ने नया मकान बनवाकर गृह प्रवेश किया था। काफी सालों से वह शाहजहांपुर में रह रहे थे। पुलिस ने शवों को अपने कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है और घटना की जांच कर रही हैं।

ट्रेन हादसे में 65 की मौत हुई, 100 से अधिक घायल

हरिओम उपाध्याय  
कराची। पाकिस्तान के सिंध प्रांत में सोमवार को हुई ट्रेन दुर्घटना में मरने वालों की संख्या बढ़कर 65 हो गई है । विपक्षी दलों ने मांग की है कि देश में हुए भीषण ट्रेन हादसों में से एक, इस दुर्घटना के कारणों का पता लगाने के लिये तुरंत जांच की जाए। उल्लेखनीय है कि सोमवार को कराची से सरगोधा जा रही ‘मिल्लत एक्सप्रेस’ पटरी से उतर गई जिससे रावलपिंडी से कराची आ रही ‘सर सैयद एक्सप्रेस’ उससे टकरा गई।
टक्कर के कारण मिल्लत एक्सप्रेस की बोगियां पलट गईं। यह हादसा सिंध के घोटकी जिले के ढरकी शहर के निकट हुआ। इस हादसे में कम से कम 65 लोगों की मौत हो गई तथा 100 से ज्यादा घायल हो गए। जियो न्यूज ने रेलवे के मंडल अधीक्षक (सुक्कुर) तारिक लतीफ के हवाले से बताया कि राहत अभियान पूरा हो चुका है तथा पटरियों को भी साफ किया जा चुका है। इस हादसे में 17 बोगियां क्षतिग्रस्त हुई थीं, उन्हें तथा इंजन को पटरियों से हटा लिया गया है।उन्होंने कहा, ”अप एवं डाउन पटरियों को बहाल किया जा चुका है । हमें रेल सेवाओं को शुरू करने के आदेश मिले हैं।” घोटकी के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक उमर तूफैल ने संवाददाताओं को बताया कि और शवों को निकाले जाने के बाद मरने वालों की संख्या बढ़ कर 65 हो गयी है। उन्होंने बताया कि 100 से अधिक लोग घायल हुये हैं जिनमें से कुछ की हालत नाजुक है। रेलवे मंत्री आजम स्वाती ने कहा कि उनके इस्तीफे से मरने वालों का जीवन लौट सकता है तो वह ऐसा करने के लिए तैयार हैं।

उन्होंने मामले की व्यापक जांच कराये जाने का वादा किया है । उन्होंने कहा कि सुक्कुर संभाग में रेल की पटरियां खस्ताहाल हैं। उन्होंने विस्तृत जांच के आदेश देते हुए कहा, ”हमें इस हादसे के लिए जिम्मेदार व्यक्ति का पता लगाना होगा।” पाकिस्तान रेलवे के एक प्रवक्ता ने बताया कि रावलपिंडी से कराची आ रही सर सैयद एक्सप्रेस साथ वाली पटरी से उतरी ट्रेन से टकरा गयी जिसके कारण यह हादसा हुआ। रेलवे ने आरंभिक रिपोर्ट में कहा है, ”चालक ने इमरजेंसी ब्रेक लगाने का प्रयास किया, लेकिन तब तक इंजन पटरी से उतरी ट्रेन (मिल्लत एक्सप्रेस) के कोचों से टकरा गयी ।” इसमें कहा गया है कि फंसे यात्रियो को बचाना राहत एवं बचाव अधिकारियो के लिये एक बड़ी चुनौती थी । बाद में भारी मशीनों का इस्तेमाल कर लोगों को निकाला गया।

कटर के अभाव में इन प्रयासों में बाधा पहुंची । इस बीच पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी के चेयरमैन बिलावल भुट्टो ने रेल हादसे की तत्काल जांच की मांग की। उन्होंने आरोप लगाया कि 2018 में जब से इमरान खान की सरकार सत्ता में आई है तब से रेल हादसे भी अधिक हो रहे हैं। पाकिस्तान मुस्लिम लीग नवाज, जमायत उलेमा ए इस्लाम फजल समेत कई विपक्षी दलों ने इस हादसे पर संसदीय बहस की मांग की।

ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट टीम में 6 नए खिलाड़ी शामिल

मेलबर्न। क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया पर कोरोना का साया नजर आने लगा है। ऑस्ट्रेलिया की क्रिकेट टीम के शीर्ष खिलाड़ियों में जैव सुरक्षित वातावरण की थकान के संकेत मिले हैं। इसके मद्देनजर खिलाड़ियों की वेस्टइंडीज और बांग्लादेश दौरे से बाहर रहने की संभावना नजर आने लगी है। इसको देखते हुए क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने 10 जुलाई से शुरू होने वाले सीमित ओवरों के इन मैचों के लिये अपनी संभावित टीम में छह नए खिलाड़ी शामिल किये हैं।
चयनसमिति ने बेन मैकडरमॉट, डैन क्रिश्चियन, कैमरन ग्रीन, एश्टन टर्नर, वेस एगर और नाथन एलिस को टीम में शामिल किया है जिससे संभावित खिलाड़ियों की संख्या बढ़कर 29 हो गयी है। ऑस्ट्रेलिया की टीम वेस्टइंडीज के खिलाफ जून में पांच टी20 अंतरराष्ट्रीय और तीन वनडे मैच खेलेगी और उसके बाद अगस्त के शुरू में पांच टी20 मैचों के लिये बांग्लादेश का दौरा करने की संभावना है।टीम 28 जून को चार्टर्ड विमान से वेस्टइंडीज के लिये रवाना होगी। उससे पहले टीम में छंटनी की जाएगी। राष्ट्रीय चयन पैनल के अध्यक्ष ट्रेवर हॉन्स ने बयान में कहा,”वेस्टइंडीज और बांग्लादेश दौरे के लिये संभावित टीम में शुरू में चुने गये खिलाड़ियों के साथ चर्चा के बाद ऑस्ट्रेलियाई पुरुष टीम में छह नए खिलाड़ी जोड़े गये हैं।”

तेज गेंदबाजी आलराउंडर डेनियल सैम्स पहले ही मानसिक स्वा​स्थ्य कारणों से बाहर हो गये हैं जबकि रिपोर्टों के अनुसार स्टार क्रिकेटर डेविड वार्नर और पैट कमिन्स भी इन दौरों से बाहर रह सकते हैं। इन तीनों के अलावा ऑस्ट्रेलिया के ​कई खिलाड़ी इंडियन प्रीमियर लीग के बीच में स्थगित होने के बाद हाल में स्वदेश लौटे हैं।

अदालत से विशेष आहार व सप्लीमेंट की मांग की

अकांशु उपाध्याय  

नई दिल्ली। हत्या के आरोप में जेल में बंद पहलवान सुशील कुमार की भूख जेल में मिल रहे खाने से नहीं मिट रही है। उसने अदालत से विशेष आहार और सप्लीमेंट दिये जाने की मांग की है। फिलहाल दिल्ली की अदालत पहलवान सुशील कुमार की विशेष आहार तथा सप्लीमेंट्स जेल के भीतर उपलब्ध करवाने की मांग वाली याचिका पर बुधवार को फैसला सुनाएगी।

ओलंपिक पदक विजेता सुशील कुमार एक युवा पहलवान की कथित हत्या के मामले में आरोपी हैं और जेल में बंद हैं। मुख्य मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट सतवीर सिंह लांबा ने अभियोजन पक्ष एवं बचाव पक्ष के वकीलों की दलीलें सुनने के बाद फैसला सुरक्षित रख लिया। सुशील कुमार पर हत्या, गैर इरादतन हत्या और अपहरण के आरोप हैं और वह दिल्ली की मंडोली जेल में बंद हैं।याचिका में कुमार के वकील प्रदीप राणा, कुमार वैभव और सत्विक मिश्रा ने कहा कि उनका मुवक्किल आईसोलेट व्हे प्रोटीन, ओमेगा-थ्री कैप्सूल, जॉइंटमेंट कैप्सूल, प्री-वर्कआउट सी4, मल्टीविटामिन आदि सप्लीमेंट लेते हैं। इसमें कहा गया कि इन आवश्यक वस्तुओं को देने से इनकार करने का कुमार के करियर पर बुरा असर पड़ेगा क्योंकि विशेष पोषण आहार तथा सप्लीमेंट उनकी सेहत तथा प्रदर्शन को बनाए रखने के लिहाज से अत्यंत आवश्यक हैं।

जेल अधिकारियों ने अदालत में दिए जवाब में कहा है कि कुमार की चिकित्सीय अवस्था में फूड सप्लीमेंट या अतिरिक्त आहार के रूप में अतिरिक्त प्रोटीन की आवश्यकता नहीं है। इस पर राणा ने कहा कि विशेष आहार तथा सप्लीमेंट की मांग सुशील कुमार के निजी खर्चे पर की गई है, इसका खर्च जेल अधिकारियों को वहन नहीं करना पड़ेगा। सुशील कुमार को 23 मई को गिरफ्तार किया गया था और दो जून को नौ दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा गया था।

राष्ट्रीय टीकाकरण कार्यक्रम, नई गाइडलाइन जारी

अकांशु उपाध्याय  
नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारत की कोविड-19 टीकाकरण नीतियों में बदलाव की घोषणा की। इसके कुछ घंटों बाद भारत सरकार ने योग दिवस 21 जून से लागू होने वाले राष्ट्रीय कोविड टीकाकरण कार्यक्रम के लिए नई गाइडलाइन जारी कर दी है। इन दिशानिर्देशों में कहा गया है कि “जनसंखया, बीमारी के बोझ और टीकाकरण की प्रगति के आधार पर राज्यों/केंद्रशासित प्रदेशों को वैक्सीन की खुराक आवंटित की जाएगी।”
1- भारत सरकार देश में निर्माताओं द्वारा उत्पादित किए जा रहे टीकों का 75% खरीद करेगी। राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों को टीके मुफ्त में दिए जाते रहेंगे।

2- केंद्र 21 जून से राज्यों को 18 वर्ष से अधिक आयु के सभी लोगों के टीकाकरण के लिए मुफ्त जैब प्रदान करेगा।

3- केंद्र सरकार द्वारा राज्यों को दी जाने वाली फ्री ऑफ कॉस्ट वैक्सीन को प्राथमिकता के आधार पर लगाया जाएगा।

4- 18 साल से अधिक आयु की जनसंख्या के ग्रुप के लिए राज्य या केंद्र शासित प्रदेश प्राथमिकता के आधार पर सप्लाई शेड्यूल तय करेंगे।

5- भारत सरकार राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को एडवांस में उन्हें सप्लाई की जाने वाली वैक्सीन की डोज के बारे में जानकारी देगी। इसी तरह राज्य और केंद्र शासित प्रदेश भी एडवांस में डिस्ट्रिक्ट और वैक्सीनेशन सेंटर्स को उन्हें दी जाने वाली डोज के बारे में जानकारी देंगे। ताकि इसे और अधिक विजिबल और सुविधाजनक बनाया जा सके।

6- प्राइवेट अस्पतालों के लिए वैक्सीन डोज की कीमत प्रत्येक वैक्सीन मैन्यूफैक्चरर द्वारा डिक्लेयर की जाएगी। और अगर कोई बदलाव किया जाता है तो वो पहले ही बताना होगा। प्राइवेट अस्पताल हर डोज के लिए ज्यादा से ज्यादा 150 रुपये सर्विस चार्ज के रूप में ले सकते हैं। राज्य सरकारें वैक्सीन की कीमत की मॉनिटरिंग करेंगी।

7- वैक्सीन निर्माताओं द्वारा उत्पादन को प्रोत्साहित करने और नए टीकों को प्रोत्साहित करने के लिए, घरेलू वैक्सीन निर्माताओं को भी निजी अस्पतालों को सीधे टीके उपलब्ध कराने का विकल्प दिया गया है। यह उनके मासिक उत्पादन के 25% तक सीमित होगा। राज्य/केंद्र शासित प्रदेश बड़े और छोटे निजी अस्पतालों और रीजनल बैलेंस के बीच समान डिस्ट्रीब्यूशन को ध्यान में रखते हुए निजी अस्पतालों की मांग को पूरा करेंगे। इस ओवरऑल डिमांड के आधार पर, भारत सरकार निजी अस्पतालों को टीकों की सप्लाई और राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण के इलेक्ट्रॉनिक प्लेटफॉर्म के माध्यम से उनके भुगतान की सुविधा प्रदान करेगी।

8- सभी नागरिक अपनी आय की स्थिति के बावजूद मुफ्त वैक्सीनेशन के हकदार हैं।

9- केंद्र की केंद्रीकृत मुफ्त टीकाकरण नीति 21 जून, अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस से शुरू होगी और सरकार 18 वर्ष से अधिक आयु के सभी भारतीय नागरिकों को मुफ्त कोविड-19 वैक्सीन प्रदान करेगी।

10- “लोक कल्याण” की भावना को बढ़ावा देने के लिए नॉन ट्रांसफरेबल इलेक्ट्रॉनिक वाउचर के उपयोग को प्रोत्साहित किया जाएगा, जिसे निजी टीकाकरण केंद्रों पर भुनाया जा सकता है। इससे लोग प्राइवेट वैक्सीनेशन सेंटर पर आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों के टीकाकरण में फाइनेंशियली सपोर्ट कर सकेंगे।

11- CoWIN प्लेटफॉर्म प्रत्येक नागरिक को सुविधाजनक और सुरक्षित रूप से प्री-बुकिंग वैक्सीनेशन अपाइंटमेंटकी सुविधा प्रदान करता है। सभी सरकारी और निजी वैक्सीनेशन सेंटर इंडीविजुअल के साथ ही साथ व्यक्तियों के समूहों के लिए ऑनसाइट रजिस्ट्रेशन की सुविधा भी प्रदान करेंगे।

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में घोषणा करते हुए कहा था कि केंद्र वैक्सीन खुराक के कुल उत्पादन का 75 प्रतिशत खरीदेगा और राज्यों को मुफ्त प्रदान करेगा। कोई भी राज्य सरकार टीकों पर कुछ भी खर्च नहीं करेगी। प्रधान मंत्री ने आगे कहा था कि देश में 23 करोड़ से अधिक कोविड-19 वैक्सीन की खुराक दी गई है और आने वाले दिनों में टीकों की सप्लाई में और ज्यादा वृद्धि होगी।

गृहमंत्री-शुभेंदु की मुलाकात, कई मुद्दों पर चर्चा की

अकांशु उपाध्याय  

नई दिल्ली। पश्चिम बंगाल विधानसभा में विपक्ष के नेता एवं भाजपा विधायक शुभेन्दु अधिकारी ने मंगलवार को केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात की और राज्य से जुड़े कई मुद्दों पर चर्चा की। अधिकारी, पश्चिम बंगाल की पूर्व ममता बनर्जी नीत सरकार में मंत्री थे, लेकिन राज्य में इस साल विधानसभा चुनाव से ठीक पहले भाजपा में शामिल हो गए।

शाह के कार्यालय ने गृह मंत्री और पश्चिम बंगाल के नेता की तस्वीर साझा करते हुए ट्वीट किया, ” शुभेन्दु अधिकारी जी ने केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह जी से मुलाकात की।” पार्टी के सूत्रों ने बताया कि राज्य विधानसभा में विपक्ष का नेता बनने के बाद शाह से अधिकारी की यह पहली मुलाकात थी। उन्होंने केन्द्रीय मंत्री मनसुख मांडविया से भी मुलाकात की। वह भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा से भी मुलाकात करेंगे।एक सूत्र ने बताया कि अधिकारी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से भी मुलाकात कर सकते हैं। पश्चिम बंगाल में विपक्ष के नेता ने ट्वीट कर बताया कि उन्होंने शाह के साथ राज्य से जुड़े कई मुद्दों पर चर्चा की और बंगाल के कल्याण के लिए उनका आर्शिवाद मांगा। उन्होंने कहा, ” माननीय गृह मंत्री ने आश्वासन दिया कि वह बंगाल के लिए हमेशा उपलब्ध रहेंगे।”

पश्चिम बंगाल में इस साल मार्च-अप्रैल में हुए विधानसभा चुनाव में नंदीग्राम सीट पर अधिकारी ने तृणमूल कांग्रेस की प्रमुख एवं राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को एक कड़े मुकाबले में मात दी थी। गौरतलब है कि मोदी और ममता के बीच चक्रवाती तूफान ‘यास’ के कारण हुए नुकसान की समीक्षा को लेकर हुई बैठक में अधिकारी की मौजूदगी से तृणमूल नेता नाराज हो गईं थी। इसके कुछ दिनों बाद ही अधिकारी भाजपा के शीर्ष नेताओं से मुलाकात कर रहे हैं। सूत्रों के अनुसार, ममता बनर्जी उक्त बैठक में देर से पहुंची थीं और चक्रवात के नुकसान संबंधी रिपोर्ट देकर वहां से चली गई थीं।

खिलाड़ियों की देखभाल के मुद्दे पर ध्यान देना जरूरी

हरिओम उपाध्याय   
लंदन। जैविक रूप से सुरक्षित माहौल में लंबे समय तक रहने के कारण मानसिक थकान की आशंका को देखते हुए भारतीय टीम प्रबंधन ने विश्व टेस्ट चैंपियनशिप (डब्ल्यूटीसी) फाइनल के बाद अपने खिलाड़ियों को तीन हफ्ते का ब्रेक देने का फैसला किया है। भारत और न्यूजीलैंड की क्रिकेट टीमों के बीच 18 जून से साउथम्पटन के एजियास बाउल में डब्ल्यूटीसी फाइनल खेला जाना है।
इस मुकाबले के बाद भारतीय खिलाड़ियों को लगभग तीन हफ्ते (20 दिन) का ब्रेक मिलेगा और वे 14 जुलाई को दोबारा एकत्रित होकर इंग्लैंड के खिालफ चार अगस्त से नॉटिंघम में शुरू होने वाली पांच मैचों की टेस्ट श्रृंखला की तैयारी करेंगे। बीसीसीआई के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि ”जैसा कि कप्तान विराट कोहली और कोच रवि शास्त्री ने रवाना होने से पहले प्रेस कांफ्रेंस में कहा था, ब्रेक दिया जाएगा।
डब्ल्यूटीसी फाइनल और इंग्लैंड के खिलाफ पहले टेस्ट के बीच छह हफ्ते का अंतर है इसलिए हमें खिलाड़ियों की देखभाल के मुद्दे पर भी ध्यान देना होगा। ब्रिटेन के अंदर ही उन्हें ब्रेक मिलेगा, वे छुट्टी मना सकते हैं, दोस्तों और परिवार से मिल सकते हैं।” बेशक टीम के खिलाड़ियों को एक साथ समय बिताने का मौका भी मिल सकता है लेकिन खिलाड़ी यह चुनने के लिए स्वतंत्र होंगे कि वे अपना समय कैसे बिताना चाहते हैं।

सूत्र ने कहा, ”उनमें से अधिकतर खिलाड़ी कई बार ब्रिटेन आए हैं और देश में उनके मित्र और साथी हैं। यह उचित रहेगा कि वे उनसे मिल सकें।” कोहली ने भी दो जून को रवाना होने से पहले प्रेस कांफ्रेंस में एक सवाल का जवाब दिया था कि क्या दो श्रृंखलाओं के बीच 42 दिन के अंतर से टीम की तैयारियां प्रभावित होंगी। भारतीय कप्तान ने इसे टीम के लिए स्वागत योग्य ब्रेक करार दिया था और मुख्य कोच रवि शास्त्री ने भी उनसे सहमति जताई थी।

दिल्ली नगर निगम के उम्मीदवारों की घोषणा की

सत्येंद्र ठाकुर   

नई दिल्ली। दिल्ली के तीन नगर निगम के विभिन्न पदों के लिए मंगलवार को भाजपा ने अपने उम्मीदवारों की घोषणा की। भाजपा को तीनों नगर निगम में बहुमत हासिल है। भाजपा के प्रदश अध्यक्ष आदेश गुप्ता ने उम्मीदावारों की सूची जारी की। इनमें राजा इकबाल सिंह, मुकेश सुर्यान और श्याम सुंदर अग्रवाल को क्रमश उत्तर, दक्षिण और पूर्वी दिल्ली के मेयर के पद के लिए नामित किया गया है।

दिल्ली में तीनों नगर निगम के विभिन्न पदों के लिए 16 जून को चुनाव होंगे। नामंकन दाखिल करने की आखिरी तारीक आठ जून है। भाजपा ने उत्तरी दिल्ली नगर निगम (एनडीएमसी) के लिए अर्चना दिलीप सिंह को डिप्टी मेयर, जोगीराम जैन को अध्यक्ष, (स्थायी समिति), विजय कुमार भगत को उपाध्यक्ष (स्थायी समिति) और छैल बिहारी गिस्वामी को सदन के नेता के पद के लिए नामित किया है।दक्षिण दिल्ली नगर निगम (एसडीएमसी) के लिए पवन शर्मा को डिप्टी मेयर, कर्नल (सेवानिवृत्त) बीके ओबेरॉय को अध्यक्ष, (स्थायी समिति), पुनम भाटी को उपाध्यक्ष, (स्थायी समिति) और इंद्रजीत सहरावत को सदन के नेता के पद के लिए नामित किया। वहीं, पूर्वी दिल्ली नगर निगम (ईडीएमसी) के लिए किरण व्याध को डिप्टी मेयर, वीर सिंह पवार को अध्यक्ष, (स्थायी समिति), दीपक मल्होत्रा को उपाध्यक्ष, (स्थायी समिति) और सत्यपाल सिंह को सदन के नेता के पद के लिए नामित किया है।

विपक्षी दल आम आदमी पार्टी और कांग्रेस के पास सीटे काफी कम है और वे भाजपा के उम्मीदवारों के लिए कोई खतरा उत्पन्न नहीं कर रहीं। कोरोना वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए लगाए गए लॉकडाउन के कारण उत्पन्न हुई स्थितियों को देखते हुए चुनाव की तारीखों में बदलाव किया जा सकता है। कोविड-19 के कारण पिछले साल भी मेयर के चुनाव में देरी हुई थी। 2022 में नगर निकाय के मौजूदा कार्यकाल के लिए पूरा होने से पहले आखिरी बार इन पदों के लिए चुनाव हो रहे हैं।

मुंबई: जीएसटी मुआवजे से जुड़े मुद्दों पर बातचीत की

कविता गर्ग 
मुबंई। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की और मराठा आरक्षण, मेट्रो के ‘कार शेड’, जीएसटी मुआवजे से जुड़े मुद्दों पर बातचीत की। महाराष्ट्र के उप मुख्यमंत्री एवं राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के नेता अजित पंवार और कांग्रेस नेता अशोक चव्हाण भी ठाकरे के साथ मौजूद थे। ठाकरे ने कहा, ” मराठा आरक्षण, मेट्रो के ‘कार शेड’, जीएसटी मुआवजे से जुड़े मुद्दों पर प्रधानमंत्री से बातचीत की।” उन्होंने बताया कि राज्य सरकार मेटूो ‘कार शेड’ को कंजुर स्थानांतरित करना चाहती है। राज्य और केन्द्र दोनों उसे अपनी जमीन बताते हैं। 
पवार ने कहा कि जीएसटी मुआवजे से जुड़े मुद्दे पर भी बातचीत हुई। पवार महाराष्ट्र के वित्त मंत्री भी हैं।ठाकरे ने कहा कि मराठी को शास्त्रीय भाषा का दर्जा देने का मामला भी केन्द्र के समक्ष लंबित है। उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री ने इस मामले पर गौर करने का आश्वासन दिया है। इससे पहले, प्रधानमंत्री कार्यालय ने ट्वीट किया था, ” महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे, उप मुख्यमंत्री अजित पवार और मंत्रिमंडल के सदस्य अशोक चव्हाण ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की। 

बिहार: लॉकडाउन को समाप्त करने की घोषणा की

अविनाश श्रीवास्तव                   
पटना। बिहार में कोरोना संक्रमण के मामले में आई कमी को देखते हुए राज्य सरकार ने लॉकडाउन को समाप्त करने की घोषणा कर दी है। हालांकि शाम 7:00 बजे से सुबह 5:00 बजे तक रात्रि कर्फ्यू लगाने के आदेश जारी किए हैं।मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मंगलवार को उच्चाधिकारियों के साथ बैठक की। इसके तुरंत बाद खुद सोशल नेटवर्किंग साइट पर ट्वीट कर लॉकडाउन समाप्त किए जाने की जानकारी दी। 
उन्होंने कहा, “लाॅकडाउन से कोरोना संक्रमण में कमी आई है। अतः लाॅकडाउन खत्म करते हुये शाम 7ः00 बजे से सुबह 5ः00 बजे तक रात्रि कर्फ्यू जारी रहेगा। 50 प्रतिशत उपस्थिति के साथ सरकारी एवं निजी कार्यालय 4ः00 बजे अपराह्न तक खुलेंगे। दुकान खुलने की अवधि 5ः00 बजे अपराह्न तक बढेंगी।बिहार के मुख्यमंत्री ने आगे ट्वीट कर कहा कि,”आनलाईन शिक्षण कार्य किये जा सकेंगे। निजी वाहन चलने की अनुमति रहेगी। यह व्यवस्था अगले एक सप्ताह तक रहेगी। उन्होंने कहा कि लोगों को अभी भी भीड़भाड़ से बचने की आवश्यकता है।

मानवता की कमी के कारण कई लोगों ने दम तोड़ा

अकांशु उपाध्याय                    
नई दिल्ली। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी तथा प्रियंका गांधी वाड्रा ने कहा है कि कोरोना की दूसरी लहर में ऑक्सीजन तथा मानवता की कमी के कारण जिस तरह से बड़ी संख्या में लोगों ने दम तोड़ा है। वह बहुत बड़ा अपराध है और इसके लिए जिम्मेदार लोगों के खिलाफ आपराधिक कार्रवाई की जानी चाहिए।नई दिल्ली। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी तथा प्रियंका गांधी वाड्रा ने कहा है कि कोरोना की दूसरी लहर में ऑक्सीजन तथा मानवता की कमी के कारण जिस तरह से बड़ी संख्या में लोगों ने दम तोड़ा है।
वह बहुत बड़ा अपराध है और इसके लिए जिम्मेदार लोगों के खिलाफ आपराधिक कार्रवाई की जानी चाहिए।प्रियंका वाड्रा ने श्मशान घाटों तथा कब्रिस्तानों और कोविड मृतकों की संख्या के सरकारी आंकड़े के बीच फर्क पर सवाल उठाते हुए कहा, “कोविड से हुई मौतों के बारे में सरकार के आंकड़ों और श्मशानों-कब्रिस्तानों के आंकड़ों में इतना फर्क क्यों। मोदी सरकार ने आंकड़ों को जागरूकता फैलाने और कोविड वायरस के फैलाव को रोकने का साधन बनाने के बजाए प्रोपागैंडा का साधन क्यों बना दिया।
एक अन्य ट्वीट में उन्होंने अपने ‘जिम्मेदार कौन’ अभियान के तहत सरकार के विरोधाभासी बयानों को उद्धृत किया -“प्रधानमंत्री: ‘मैंने ऑक्सीजन की कमी नहीं होने दी।’ मुख्यमंत्री: ‘ऑक्सीजन की कोई कमी नहीं। कमी की अफवाह फैलाने वालों की संपत्ति जब्त होगी।’ मंत्री: ‘मरीजों को जरूरत भर ऑक्सीजन दें। ज्यादा ऑक्सीजन न दें।’ आगरा अस्पताल ऑक्सीजन खत्म थी। 22 मरीजों की ऑक्सीजन बंद करके मॉकड्रिल की। ज़िम्मेदार कौन।

नाखून बदले-बदले दिखने लगे तो हो जाएं सावधान

नॉर्विच। नाखून की सजावट के लिए महिलाएं तमाम जतन करती हैं। क्या आपको पता है, सुंदर दिखने वाले नाखून आपके शरीर का राज बता देते हैं। अगर आपके नाखून कुछ बदले-बदले से दिख रहे हो तो बेहद होशियार हो जाइए। समझ लें कि ‘‘कोविड नाखून’’ बीमारी से आप घिर चुके हैं। कोरोना संक्रमण से पूरी दुनिया में जूझ रही हैं। कोविड-19 के मुख्य लक्षण बुखार, खांसी, थकान और स्वाद तथा गंध के एहसास में कमी हैं। त्वचा में भी कोविड-19 के लक्षण देखे गए हैं। लेकिन शरीर का एक और हिस्सा है। 
जहां वायरस का प्रभाव पड़ता है और वह हैं आपके नाखून। वासिलियोस वासिलीऊ, यूनिवर्सिटी ऑफ ईस्ट एंग्लिया, यूनिवर्सिटी ऑफ ईस्ट एंग्लिया और यूनिवर्सिटी ऑफ ईस्ट एंग्लिया नॉर्विच की ओर से केस स्टडी के बाद यह बात कही गई है।स्टडी के मुताबिक कई मरीजों के नाखून में बदलाव देखने को मिला है। कोविड-19 संक्रमण के बाद, कुछ रोगियों के नाखूनों का रंग फीका पड़ जाता है या कई सप्ताह बाद उनका आकार बदलने लगता है – इसे ‘‘कोविड नाखून’’ कहा जाता है। नाखूनों के आधार पर लाल रंग की अर्ध-चंद्र की आकृति बनना है। ऐसा लगता है कि यह कोविड से जुड़ी नाखून की अन्य शिकायतों से पहले ही मौजूद था, रोगियों ने कोविड संक्रमण का पता लगने के दो सप्ताह से भी कम समय में इसे देखा है।
नाखून पर इस तरह की लाल अर्ध-चंद्र आकृति आम तौर पर दुर्लभ होती हैं, और पहले नाखून के आधार के इतने करीब नहीं देखी गई हैं। इसलिए इस आकृति का इस तरह दिखना विशेष रूप से कोविड-19 के संक्रमण का एक संकेत हो सकता है। स्टडी के मुताबिक, नाखून पर यह अर्ध-चंद्र क्यों बनता है, इसका एक संभावित कारण वायरस से जुड़ी रक्त वाहिका में क्षति हो सकती है। या फिर यह वायरस के खिलाफ प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया के कारण हो सकता है जिससे रक्त के छोटे थक्के जमते हैं और नाखून का रंग फीका हो सकता है।रोगी यदि लक्षणमुक्त है तो महत्वपूर्ण रूप से, इन निशानों के बारे में चिंता करने की कोई बात नहीं है – हालांकि यह स्पष्ट नहीं है कि वे कितने समय तक रहते हैं। रिपोर्ट किए गए मामलों में यह कुछ में एक सप्ताह तो कुछ में चार सप्ताह रहे।
कुछ रोगियों ने अपने हाथों और पैरों की उंगलियों के नाखूनों के आधार में नए अलग तरह की रेखाएं भी देखीं जो अमूमन कोविड-19 संक्रमण के चार सप्ताह या उससे अधिक समय बाद दिखाई देती हैं। सामान्यत: ये रेखाएं तब होती हैं जब किसी तरह के शारीरिक तनाव, जैसे संक्रमण, कुपोषण या कीमोथेरेपी आदि के दुष्प्रभाव के कारण नाखून की बढ़वार में अस्थायी रुकावट होती है। अब यह कोविड-19 के कारण भी हो सकते हैं।
नाखून औसतन हर महीने 2 मिमी से 5 मिमी के बीच बढ़ते हैं, शारीरिक तनाव होने के चार से पांच सप्ताह बाद ये रेखाएँ ध्यान देने योग्य हो जाती हैं – जैसे-जैसे नाखून बढ़ता है, इनका पता चलता है। इसलिए तनावपूर्ण घटना के समय का अनुमान यह देखकर लगाया जा सकता है कि यह रेखाएँ नाखून के आधार से कितनी दूर हैं। 
इन रेखाओं के लिए कोई विशिष्ट उपचार नहीं है, क्योंकि समस्या का समाधान होने पर यह ठीक होने हैं। वर्तमान में, उपलब्ध साक्ष्य बताते हैं कि कोविड-19 संक्रमण की गंभीरता और नाखूनों में होने वाले परिवर्तन के प्रकार या समय सीमा के बीच कोई संबंध नहीं है। अन्य असामान्य निष्कर्ष उपरोक्त तथ्य कोविड संक्रमण के कारण नाखून में होने वाले दो सामान्य परिवर्तन से जुड़े हैं, लेकिन शोधकर्ताओं ने कुछ अन्य असामान्य घटनाओं को भी दर्ज किया।

‘बी द मिरेकल’ पहल के तहत जरूरतमंदों को भोजन

कविता गर्ग                
मुंबई। अभिनेत्री राशि खन्ना कोरोना संकट के समय ‘बी द मिरेकल’ पहल से जुड़ गई हैं। जिसके तहत जरूरतमंद लोगों को भोजन पहुंचाया जाएगा। कोरोना संकट के समय यह जरूरी है कि हम सभी आगे बढ़ कर जरूरतमंदों की हर संभव मदद करने की कोशिश करें। राशि खन्ना उन गरीब परिवारों की सहायता करेंगी जिनपर इस महामारी ने लॉकडाउन के चलते गहरा प्रभाव छोड़ा है। राशी संकट की इस घड़ी में जरूरतमंद लोगों की सक्रिय रूप से मदद करने के लिए काम कर रही है।वह कोरोना के इस समय में उन लोगों की मदद करने के लिए अथक प्रयास कर रही है।
जिन्होंने अपनी आजीविका खो दी है। राशी इस काम को बिना किसी को जताए चुपचाप सेवा करने में लगी हुई हैं। बी द मिरेकल के साथ-साथ राशी रोटी बैंक जैसे संस्थाओं और स्वयंसेवकों के साथ जुड़ी हैं। जो उन जानवरों की मदद कर रहे हैं। जिन्हें विशेष रूप से लॉकडाउन के दौरान बिना भोजन या पानी के छोड़ दिया गया था। साथ ही, वे कुछ वृद्धाश्रम की सेवा में तत्पर हैं।राशी खन्ना का मानना है कि ,“महामारी से पीड़ित लोगों की दशा दिल दहला देने वाली है। बी द मिरेकल के जरिए मैं लोगों की हर मुमकिन मदद करने की कोशिश कर रही हूं। 
मैं सौभाग्यशाली हूं कि मुझे एक ऐसी टीम का साथ मिला है जो इतनी बहादुर हैं, कि इस महामारी में भी घर से बाहर निकलकर लोगों की समस्याओं को सामने ला रही हैं। कई परिवार भुखमरी के कगार पर हैं जो हकीकत में बहुत ही बुरे समय से गुज़र रहे हैं।
मैं चाहती हुं कि लोग दिल खोलकर डोनेशन करें, तिनका तिनका भी मायने रखता है। यह एक अत्यधिक राशि होना जरूरी नहीं है। हमें इस बात का एहसास होना चाहिए कि हम सब इस समय एक साथ हैं और केवल एक साथ रहकर ही हम इस कठिन समय को पार कर सकते हैं। और साथ में हम किसी के भी जीवन में चमत्कार ला सकते हैं।

यूपी के सभी जिलों में कोरोना कर्फ्यू समाप्त किया

हरिओम उपाध्याय                  
लखनऊ। उत्तर प्रदेश के सभी जिलों में कोरोना कर्फ्यू मंगलवार को समाप्त कर दिया गया। अपर मुख्य सचिव सूचना नवनीत सहगल ने बताया कि बुधवार नौ जून से पूरे प्रदेश के सभी 75 जिलों में केवल शाम सात से सुबह सात बजे तक नाइट कर्फ्यू जारी रहेगा।उन्होंने कहा कि अब प्रदेश के सभी जिले कोरोना कर्फ्यू से बाहर हो गए हैं। उन्होंने बताया कि यह फैसला मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में मंगलवार को हुई एक उच्च स्तरीय बैठक में लिया गया। सहगल ने बताया कि प्रदेश के सभी जिलों में कोरोना वायरस के उपचाराधीन मामले कम हुए हैं और अब प्रदेश में कुल 14 हजार लोगों का इलाज चल रहा है।

महात्मा गांधी की पड़पोती को 7 वर्ष की कैद, जुर्म

जोहानिसबर्ग। डरबन की एक अदालत ने महात्मा गांधी की पड़पोती को 60 लाख रैंड की धोखाधड़ी और जालसाजी के जुर्म में सात वर्ष की कैद की सजा सुनायी है। आशीष लता रामगोबिन (56) को सोमवार को अदालत ने यह सजा सुनाई। उन पर उद्योगपति एसआर महाराज के साथ धोखाधड़ी करने का आरोप था। महाराज ने उन्हें कथित रूप से भारत से एक ऐसी खेप के आयात और सीमाशुल्क कर के समाशोधन के लिए 62 लाख रैंड दिये थे, जिसका कोई अस्तित्व नहीं था। इसमें उन्हें लाभ का एक हिस्सा देने का वादा किया गया था।
लता रामगोबिन जानी मानी मानवाधिकार कार्यकर्ता इला गांधी और दिवंगत मेवा रामगोबिंद की संतान हैं। वर्ष 2015 में जब लता रामगोबिन के खिलाफ सुनवाई शुरू हुई थी तब राष्ट्रीय अभियोजन प्राधिकरण (एनपीए) के ब्रिगेडियर हंगवानी मूलौदजी ने कहा था कि उन्होंने संभावित निवेशकों को यकीन दिलाने के लिए कथित रूप से फर्जी चालान और दस्तावेज दिये थे कि भारत से लिनेन के तीन कंटेनर आ रहे हैं। उस वक्त लता रामगोबिन को 50,000 रैंड की जमानत राशि पर रिहा कर दिया गया था। 
सोमवार को सुनवाई के दौरान अदालत को सूचित किया गया कि लता रामगोबिन ने ‘न्यू अफ्रीका अलायंस फुटवेयर डिस्ट्रीब्यूटर्स’ के निदेशक महाराज से अगस्त 2015 में मुलाकात की थी। कंपनी कपड़ों, लिनेन और जूते-चप्पलों का आयात, निर्माण और बिक्री करती है। महाराज की कंपनी लाभांश के आधार पर अन्य कंपनियों को वित्तीय मदद भी मुहैया कराती है। लता रामगोबिन ने महाराज से कहा था कि उन्होंने ‘साउथ अफ्रीकन हॉस्पिटल ग्रुप नेट केयर’ के लिए लिनेन के तीन कंटेनर मंगाये हैं। रामगोबिन के परिवार और नेट केयर के दस्तावेज के कारण महाराज ने कर्ज के लिए उनसे लिखित समझौत कर लिया। लेकिन बाद में जब उन्हें फर्जीवाड़े का पता चला तो उन्होंने लता के खिलाफ आपराधिक मामला दर्ज कराया।

विश्व: 37.34 लाख से अधिक लोगों की मौंत, संक्रमण

वाशिंगटन डीसी। दुनियाभर में कोरोना वायरस (कोविड-19) का प्रकोप जारी है। अब तक इससे 17.35 करोड़ से अधिक लोग संक्रमित हो चुके हैं। जबकि 37.34 लाख से ज्यादा लोगों की मौत हो गई है। संक्रमित मामलों की बात करें तो अमेरिका पहले, भारत दूसरे और ब्राजील तीसरे स्थान पर है। अमेरिका की जॉन हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी के विज्ञान एवं इंजीनियरिंग केंद्र (सीएसएसई) की ओर से जारी ताजा आंकड़ों के अनुसार दुनिया के 192 देशों एवं क्षेत्रों में संक्रमितों की संख्या बढ़कर 17 करोड़ 35 लाख 41 हजार 613 हो गयी है। जबकि 37 लाख 34 हजार 768 लोगों की इस संक्रमण के कारण मौत हो चुकी है। विश्व में महाशक्ति माने जाने वाले अमेरिका में कोरोना वायरस की रफ्तार थोड़ी धीमी पड़ी है। हालांकि यहां संक्रमितों की संख्या तीन करोड़ 33 लाख 77 हजार 632 हो गयी है और 5,97,946 लाख से अधिक लोगों की इस संक्रमण से मौत हो गयी है।

दुनिया में कोरोना संक्रमितों के मामले में भारत दूसरे स्थान पर और मृतकों के मामले में तीसरे स्थान पर है। पिछले 24 घंटों में 86,498 नये मामले आने के साथ ही संक्रमितों का आंकड़ा बढ़कर दो करोड़ 89 लाख 96 हजार 473 हो गया। इस दौरान एक लाख 82 हजार 282 मरीज स्वस्थ हुए हैं। जिसे मिलाकर देश में अब तक दो करोड़ 73 लाख 41 हजार 462 लोग इस महामारी को मात दे चुके हैं। सक्रिय मामले 97,907 और घट कर अब 13 लाख तीन हजार 702 रह गये हैं। इस दौरान 2123 और मरीज अपनी जान गंवा बैठे और इस बीमारी से मरने वालों की कुल संख्या बढ़कर तीन लाख 51 हजार 309 हो गयी है। ब्राजील संक्रमितों के मामले में अब तीसरे स्थान पर है। इस देश में कोरोना संक्रमण के मामले फिर से बढ़ रहे हैं और अभी तक इससे 1.69 करोड़ से ज्यादा लोग प्रभावित हुए हैं। जबकि 4.74 लाख से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। ब्राजील कोरोना से मौतों के मामले में विश्व में दूसरे स्थान पर है। संक्रमण के मामले में फ्रांस चौथे स्थान पर है जहां कोरोना वायरस से अब तक 57.75 लाख से अधिक लोग प्रभावित हुए हैं। जबकि 1.10 लाख से अधिक मरीजों की मौत हो चुकी है।

कोरोना प्रभावितों के मामले में तुर्की रूस से आगे निकल गया है और यहां कोरोना वायरस से संक्रमितों की संख्या 52.93 लाख हो गयी है और 48,255 मरीजों की मौत हो चुकी है। रूस में कोरोना संक्रमितों की संख्या 50.76 लाख से अधिक हो गई है और इसके संक्रमण से 1.22 लाख से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है। ब्रिटेन में कोरोना वायरस प्रभावितों की कुल संख्या 45.38 लाख से अधिक हो गयी है और 1.28 लाख से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है। मृतकों के मामले में ब्रिटेन पांचवें स्थान पर है। इटली में कोरोना प्रभावितों की संख्या 42.33 लाख से अधिक हो गयी है और 1.26 लाख से अधिक लाेगों की जान जा चुकी है। कोरोना से प्रभावित होने के मामले में अर्जेंटीना ने जर्मनी को पीछे छोड़ दिया है। अर्जेंटीना में संक्रमितों की संख्या बढ़कर 39.77 लाख से अधिक हो गयी है तथा मृतकों की संख्या 81,946 है। जर्मनी में वायरस की चपेट में आने वालों की संख्या 37.10 लाख से अधिक हो गई है और 89,390 लोगों की मौत हो चुकी है।

स्पेन में इस महामारी से 37.07 लाख से अधिक लोग प्रभावित हुए हैं और 80,236 लोगों की मौत हो चुकी है। कोलंबिया में कोरोना वायरस से 35.93 लाख से अधिक लोग प्रभावित हुए हैं और 92,496 लोगों ने जान गंवाई है। इस बीच ईरान ने पोलैंड को पीछे छोड़ते हुए आगे निकल गया है। ईरान में संक्रमितों की संख्या बढ़कर 29.71 लाख से ज्यादा हो गयी है तथा मृतकों का आंकड़ा 81,183 पहुंच गया है। पोलैंड में कोरोना से 28.75 लाख से अधिक लोग प्रभावित हुए हैं और इस महामारी से 74,160 लोग जान गंवा चुके हैं। मैक्सिको में कोरोना से 24.34 लाख से अधिक लोग संक्रमित हुए हैं और यह देश मृतकों के मामले विश्व में चौथे स्थान पर है जहां अभी तक इस वायरस के संक्रमण से करीब 2.28 लाख लोगों की मौत हो चुकी है। यूक्रेन में संक्रमितों की संख्या 22.74 लाख से अधिक है और 53,295 लोग अपनी जान गंवा बैठे हैं। पेरू में संक्रमितों की संख्या 19.83 लाख के पार पहुंच गयी है, जबकि 1.86 लाख से अधिक लोगों की जान जा चुकी है।

इंडोनेशिया में भी कोरोना संक्रमण के मामले 18.63 लाख के पार पहुंच गये हैं जबकि 51,803 लोगों की मौत हो चुकी है। दक्षिण अफ्रीका में कोरोना वायरस से 16.99 लाख से अधिक लोग प्रभावित हुये हैं और 57,063 लोगों की मौत हो चुकी है। नीदरलैंड में कोरोना से अब तक 16.91 लाख से अधिक लोग संक्रमित हुए हैं और यहां इस महामारी से 17,957 लोगों की मौत हो चुकी है। चेक गणराज्य में कोरोना से अब तक 16.63 लाख से अधिक लोग प्रभावित हो चुके हैं और यहां इस महामारी से 30,164 लोग जान गंवा चुके हैं। पड़ोसी देश पाकिस्तान में अब तक कोरोना से 9.33 लाख से अधिक लोग संक्रमित हुए हैं और 21,323 मरीजों की मौत हो चुकी है। अन्य पड़ोसी देश बंगलादेश में भी कोरोना वायरस का प्रकोप जारी है जहां 8.12 लाख लोग संक्रमित हुए हैं और 12,869 मरीजों की मौत हो चुकी है। इसके अलावा दुनिया के अन्य देशों में भी कोरोना वायरस के संक्रमण से स्थिति खराब है।

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन 

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण 

1. अंक-297 (साल-02)
2. बुधवार, जून 09, 2021
3. शक-1984, ज्येठ, कृष्ण-पक्ष, तिथि- पूर्णिमा, विक्रमी सवंत-2078।
4. सूर्योदय प्रातः 05:45, सूर्यास्त 07:13।
5. न्‍यूनतम तापमान -24 डी.सै., अधिकतम-41+ डी.सै.।
6.समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है।
7.स्वामी, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी।
8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102।
9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.-20110
http://www.universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
संपर्क सूत्र :- +919350302745  
                     (सर्वाधिकार सुरक्षित)

शराब: डब्ल्यूटीओ में शिकायत दर्ज करेंगा आस्ट्रेलिया

सिडनी/ बीजिंग। ऑस्ट्रेलिया ने कहा है कि वो उनके यहाँ बनी शराब पर चीन के शुल्क बढ़ाने के खिलाफ डब्ल्यूटीओ में शिकायत दर्ज करेगा। चीन ने पिछले...