रविवार, 10 अप्रैल 2022

403 विधानसभा क्षेत्रों में बनेंगे 100 बेड के अस्पताल

403 विधानसभा क्षेत्रों में बनेंगे 100 बेड के अस्पताल 

संदीप मिश्र                   

गोरखपुर। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रविवार को कहा कि प्रदेश के सभी 403 विधानसभा क्षेत्रों में 100 बेड के सभी संसाधनों से युक्त उच्चीकृत अस्पताल बनाए जाएंगे। इसके साथ ही राज्य के प्रत्येक विकास खंड क्षेत्र में 25 से 30 बेड के बेहतरीन सीएससी-पीएससी उपलब्ध कराने की दिशा में कार्यवाही को तेजी से आगे बढ़ाया जा रहा है। योगी ने यहां जंगल कौड़िया पीएचसी से पूरे प्रदेश के लिए मुख्यमंत्री जन आरोग्य मेला का शुभारंभ करते हुये कहा कि हर एक व्यक्ति को उत्तम स्वास्थ्य देना सरकार का कर्तव्य और हम इस दिशा में हर संभव प्रयास कर रहे हैं। उत्तम आरोग्यता से ही स्वस्थ समाज का निर्माण होगा और स्वस्थ समाज के होने पर ही हम सशक्त उत्तर प्रदेश और सशक्त भारत के निर्माण में अपना योगदान दे सकते हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर को मजबूत करने की दिशा में सरकार तेजी से आगे बढ़ी है।कभी पूर्वी उत्तर प्रदेश में इलाज का एकमात्र केंद्र गोरखपुर का बीआरडी मेडिकल कॉलेज ही था। वह भी कब बंद हो जाए कुछ कहा नहीं जा सकता था। वहां न डॉक्टर पर्याप्त थे और न ही दवाएं। आज बीआरडी मेडिकल कॉलेज बहुत अच्छे ढंग से स्वास्थ्य सेवाएं दे रहा है। पूर्वी उत्तर प्रदेश के लोगों की चिकित्सा की सुविधा के लिए गोरखपुर में एम्स भी खुल गया है। साथ ही साथ देवरिया, सिद्धार्थनगर व बस्ती में नए मेडिकल कॉलेज सेवाएं दे रहे हैं। कुशीनगर में मेडिकल कॉलेज का निर्माण चल रहा है और महाराजगंज में मेडिकल कॉलेज बनाने की स्वीकृति दी जा चुकी है।

योगी ने इस अवसर पर संचारी रोगों की रोकथाम पर अंतर्विभागीय समन्वय व सामूहिकता की ताकत का उल्लेख करते हुए कहा कि इसी ताकत के दम पर उत्तर प्रदेश पीएम मोदी के मार्गदर्शन में कोरोना नियंत्रण का बेहतरीन मॉडल देने में सफल रहा है। यही नहीं, अंतर्विभागीय समन्वय व टीम वर्क के बल पर 1977 से लेकर 2017 तक पूर्वी उत्तर प्रदेश में पचास हजार मासूमों को असमय काल कवलित करने वाली इंसेफेलाइटिस पर नकेल कस दिया है। उन्होंने कहा कि 40 वर्ष ने इंसेफलाइटिस को समाप्त नहीं किया जा सका था, इसके इलाज के लिए संसाधन तक नहीं थे। पर, केंद्र व प्रदेश सरकार ने मिलकर सिर्फ चार साल में इंसेफलाइटिस को समूल उखाड़ने में सफलता हासिल की है। मस्तिष्क ज्वर अब नाममात्र का है। थोड़ी सी सतर्कता और सामूहिक प्रयास से अगले एक-दो साल में इंसेफेलाइटिस सदा के लिए समाप्त हो जाएगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि एक संवेदनशील सरकार कैसे कार्य करती है, कोरोना काल में उत्तर प्रदेश में सभी लोगों ने देखा है। महामारी के दौरान कोरोना वारियर्स के सेवा भाव व टीम वर्क की सराहना करते हुए उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में अब तक वैक्सीन की 30 करोड़ डोज उपलब्ध कराई जा चुकी है। फ्री जांच, इलाज व वैक्सीन के साथ डबल इंजन की सरकार ने हर जरूरतमंद को हर माह राशन का डबल डोज भी दिया। ये सभी कार्य निरंतर आगे बढ़ रहे हैं। लोगों को संचारी रोग नियंत्रण अभियान, टीबी व फाइलेरिया मुक्ति अभियान से जुड़ने की अपील करते हुये उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सदैव कहते हैं कि बचाव ही बीमारियों से दूर रहने का सर्वोत्तम उपाय है। यदि बीमारी हो भी गई तो उसे छुपाने की बजाय समय पर इलाज कराने की आवश्यकता है। सीएम योगी ने कहा कि 2030 तक दुनिया को टीबी मुक्त करने का लक्ष्य रखा गया है जबकि पीएम मोदी ने इसके लिए 2025 का ही लक्ष्य निर्धारित किया है। जनसामान्य टीबी मरीजों की पहचान और उनके इलाज में अपना योगदान दे। टीबी मरीजों को सरकार की तरफ से प्रति माह 500 रुपया पोषण भत्ता भी दिया जाता है।

श्री योगी ने कहा कि आज से प्रारंभ हो रहा जन आरोग्य मेला हर रविवार को प्रदेश के सभी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों पर लगेगा। मेला में लोगों को निशुल्क चिकित्सकीय परामर्श, निशुल्क जांच व मुफ्त दवाओं के माध्यम से आरोग्यता का उपहार मिलेगा। आरोग्य मेला 2020 में ही शुरू किया गया था लेकिन कोरोना संक्रमण के कारण इसे स्थगित करना पड़ा था। एक बार फिर इसका शुभारंभ हो रहा है। इसका उद्देश्य सभी लोगों को बिना भेदभाव चिकित्सा सेवा का लाभ पहुंचाना है। मेले में सरकार की स्वास्थ्य योजनाओं का प्रचार प्रसार किया जाएगा और लोगों में स्वास्थ्य के प्रति जागरूकता बढ़ाई जाएगी। उन्होंने कहा कि जिन लोगों के स्वास्थ्य कार्ड बनने से रह गए हैं, वे बनवाकर इसका लाभ उठाएं। आरोग्य मेला के शुभारंभ अवसर पर मुख्यमंत्री ने विभिन्न योजनाओं के लाभार्थियों को प्रमाण पत्र वितरित करने के साथ ही फाइलेरिया के रोगियों को किट भी प्रदान किया।

इस अवसर पर विधायक फतेह बहादुर सिंह, महेंद्र पाल सिंह, प्रदीप शुक्ला, भाजपा के क्षेत्रीय अध्यक्ष डॉ धर्मेंद्र सिंह आदि भी मौजूद रहे।

सार्वजनिक सूचना

सार्वजनिक सूचना 

मेरी 12वीं कक्षा की अंक तालिका गुमशुदा हो गई है जिसमें मेरा अनुक्रमांक नंबर-0226090  अंकित है। इस संबंध में स्थानीय पुलिस (थाना लोनी बॉर्डर) को गुमशुदगी से संबंधित पत्र प्रेषित किया है।
चंदन पुत्र अशोक पांचाल 
निवासी-F-127 पूर्वी जवाहर नगर, लोनी, गाजियाबाद उत्तर प्रदेश-201102
यदि किसी को मेरी अंक तालिका मिले कृपया मुझे देने का कष्ट करें।
9717621486।

आंध्रप्रदेश: नए मंत्रिमंडल की अटकलों पर विराम

आंध्रप्रदेश: नए मंत्रिमंडल की अटकलों पर विराम 

इकबाल अंसारी     

विजयवाड़ा। आंध्र प्रदेश सरकार ने नए मंत्रिमंडल की अटकलों पर विराम लगाते हुए रविवार को यहां 25 सदस्यों के नाम राज्यपाल को भेजे। जिन्हें मंत्रिमंडल में शामिल किया जाना है। आंध्र प्रदेश में शनिवार को सभी 24 मंत्रियों अपने इस्तीफे राज्यपाल को भेजे थे, जिसके बाद राज्यपाल ने उन सभी मंत्रियों का इस्तीफा स्वीकार कर लिया।

नए मंत्री सोमवार को अमरावती में सचिवालय परिसर में शपथ ग्रहण करेंगे। मुख्यमंत्री वाई एस जगन मोहन रेड्डी ने नए मंत्रिमंडल में 10 पुराने मंत्रियों सहित 15 नए चेहरों को शामिल किया है। मुख्यमंत्री ने एससी, एसटी और बीसी समुदायों के विधायकों को अधिक महत्व दिया है। हालांकि नए मंत्रिमंडल में ब्राह्मण, वैश्य, कम्मा और क्षत्रिय समुदायों को स्थान नहीं मिली। फिल्म अभिनेत्री से राजनेता बने आरके रोजा को भी नए मंत्रिमंडल में जगह मिली है।

नए मंत्रिमंडल में गुडीवाड़ा अमरनाथ, ददिशेट्टी राजा, बोत्सा सत्यनारायण, आर धर्मना प्रसाद राव, सिदिरी अप्पलाराजू, जोगी रमेश, अंबाती रामबाबू, कोट्टू सत्यनारायण, तनती वनिता, करुमुरी नागेश्वर राव, मेरुगा नागार्जुन, बुडी मुथ्याला नायडू, विदुदाला रजनी, काकानी गोवर्धन रेड्डी, पेडिरेड्डी रामचंद्र रेड्डी, बुगना राजेंद्रनाथ रेड्डी, पिनिपे विश्वरूप, गुम्मनूरु जयराम, आरके रोजा, उषाश्री चरण, थिप्पे स्वामी, चेलुबोइना वेणुगोपाल और नारायण स्वामी को जगह मिली है। ये सब सोमवार को कैबिनेट मंत्री के रूप में शपथ लेंगे।

बाबा केवल स्थान विकसित, योजनाओं पर कार्य

बाबा केवल स्थान विकसित, योजनाओं पर कार्य 

अविनाश श्रीवास्तव           

समस्तीपुर। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा है कि समस्तीपुर जिले के पटोरी सिऊरा स्थित बाबा अमर सिंह स्थल पर लगने वाले मेले को राजकीय मेले का दर्जा दिया जाएगा। कुमार ने रविवार को समस्तीपुर जिले के मोरबा प्रखंड के इन्द्रवारा में आयोजित बाबा केवल धाम राजकीय मेले के उद्घाटन समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि बाबा केवल स्थान को विकसित करने के लिए कई योजनाओं पर काम चल रहा है।

उन्होंने कहा कि समस्तीपुर के बाबा केवल स्थान पर स्वास्थ्य सुविधा के लिए एक अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र भी खोला जायेगा। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) की सरकार बिहार के विकास और लोगों के हित में काम कर रही है। कुमार ने कहा कि समस्तीपुर जिले के पटोरी सिऊरा के बाबा अमर सिंह स्थान से बाबा केवल स्थान तक आवागमन को सुलभ बनाने के लिए करीब 25 करोड़ रुपए की लागत से 13 किलोमीटर संपर्क रोड भी बनाया जा रहा है।

उन्होंने दावा किया कि प्रदेश में अपराध एवं भ्रष्टाचार को नियंत्रित किया गया है। इस अवसर पर गृह राज्य मंत्री सह स्थानीय भाजपा सांसद नित्यानंद राय ने समस्तीपुर के पटोरी सिऊरा स्थित बाबा अमर स्थान पर लगने वाले मेले को भी राजकीय मेला का दर्जा देने के लिए मुख्यमंत्री के प्रति आभार जताया। राय ने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बाबा केवल स्थान एवं बाबा अमर स्थान को जिस तरह से विकसित करने का जो पहल की है, उससे देश के पर्यटक खासकर निषाद् समाज के लोग यहां आयेंगे

उन्होंने इस मौके पर बाबा केवल स्थान परिसर मे पर्यटन विभाग द्वारा करीब 4 करोड़ की लागत से निर्मित यात्री निवास का भी उद्वघाटन किया। समारोह को उप मुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद, शिक्षा मंत्री विजय कुमार चौधरी, बिहार विधानसभा के उपाध्यक्ष महेश्वर हजारी, जदयू के राष्ट्रीय महासचिव विधासागर निषाद्,भाजपा नेता व पूर्व मंत्री बैधनाथ सहनी व रामाश्रय सहनी एवं जिलाधिकारी योगेंद्र सिंह ने भी संबोधित किया। इस राजकीय मेलें मे नेपाल के अलावे उतरप्रदेश, राजस्थान एवं झारखंड समेत देश के विभिन्न प्रदेशों से लाखों श्रद्वालु भाग ले रहे हैं।

एक्ट्रेस के पति फरहान को गोवा एयरपोर्ट पर रोका

एक्ट्रेस के पति फरहान को गोवा एयरपोर्ट पर रोका 

कविता गर्ग     
मुंबई। बॉलीवुड में अपने दमदार अभिनय और अपनी खूबसूरती के लिए मशहूर होने वाली एक्ट्रेस आयशा टाकिया को लेकर एक बड़ी खबर आई है। दरअसल, उनसे और उनके पति फरहान आजमी अपने बेटे के साथ गोवा से मुंबई लौट रहे थे।
हालाँकि, इसी दौरान उन्हें गोवा एयरपोर्ट पर रोक लिया गया। फरहान का नाम पढ़ने के बाद कुछ अफसरों ने उन्हें परिवार से अलग कर दिया और बदतमीजी की। इस बारे में जानकारी फरहान ने सोशल मीडिया पर देते हुए अपना गुस्सा जाहिर किया है।
फरहान ने बदतमीजी करने वाले अफसर की दो तस्वीरें शेयर की हैं। इसी के साथ फरहान ने कैप्शन में लिखा है- ‘ डियर @CISFHQrs मैं मुंबई के लिए 6:40 की फ्लाइट में बैठ रहा था और तभी रेसिस्ट अफसरों R P Singh, A K Yadav, कमांडर राउत और एसपी कैटिगरी के सीनियर अफसर बहादुर ने मेरा नाम पढ़ते ही मुझे मेरे परिवार से अलग कर दिया। मौजूद एक आर्म्ड अफसर ने हमें फिजिकली टच किया और मेरी वाइफ और बेटे को मुझसे अलग खड़े होने को कहा। वहीं अन्य फैमिली मेंबर्स सिक्योरिटी चेकअप के लिए खड़े थे और उन्हें अलग नहीं किया गया। बस मैंने उनसे इतना कहा कि वे किसी महिला को टच ना करें और दूरी बनाकर रखें।’
केवल यही नहीं बल्कि इसके अलावा फरहान ने आगे बताया कि- ‘बात यहीं नहीं रुकी। सीनियर अफसर बहादुर ने फिर CISFHQrs के एक गार्ड को इशारे से बुलाया, जो मुझे डराने को एकदम तैयार था। इस रेसिस्ट अफसर ने मेरी जेब चेक करते हुए मुझ पर बेहद घटिया सेक्शुअल कमेंट किया। मेरी जेब में सिर्फ 500 रुपये थे। फरहान ने ट्वीट में मुंबई पुलिस और गोवा एयरपोर्ट को भी टैग किया है।’ उनके इस ट्वीट पर गोवा एयरपोर्ट ने माफी मांगते हुए कहा, ‘सफर के दौरान आपको और आपके परिवार को जो तकलीफ उठानी पड़ी, उसके लिए हम माफी मांगते हैं। इस मामले की जांच की जाएगी।’ आप सभी को बता दें आयशा ने साल 2009 में फरहान से शादी की थी। वहीं शादी के दो साल बाद एक्ट्रेस ने एक्टिंग से दूरी बना ली और अब वह अभिनय से दूर हैं।

परीक्षार्थियों को निष्कासित नहीं करने का निर्देश

परीक्षार्थियों को निष्कासित नहीं करने का निर्देश   

अकांशु उपाध्याय    
नई दिल्ली। केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ने दसवीं और 12वीं बोर्ड परीक्षा के दौरान परीक्षार्थियों को निष्कासित नहीं करने का निर्देश दिया है। बोर्ड की मानें तो परीक्षा के दौरान नकल करते छात्र पकड़े जायेंगे, तो उन्हें निष्कासित नहीं किया जायेगा। बल्कि नकल के बाद परीक्षार्थियों को दुबारा परीक्षा दिलवायी जायेगी।
नकल करने वाले छात्र की कॉपी और प्रश्नपत्र ले लिया जायेगा। इसके बाद फिर उसे दूसरे कमरे में ले जाया जायेगा। फिर दूसरी उत्तरपुस्तिका और प्रश्नपत्र देकर उसे परीक्षा दिलवाई जाएगी। परीक्षा के बाद ऐसे छात्रों की दोनों उत्तर पुस्तिका को अलग-अलग लिफाफे में सीलबंद किया जायेगा और उन्हें स्पीड पोस्ट से सीधा बोर्ड को भेजा जायेगा।
कोरोना संक्रमण के समय बना नियम : कोरोना संक्रमण के कारण बोर्ड ने यह बदलाव किया है। कोरोना के कारण दो साल ऑनलाइन कक्षाएं चलीं। बच्चों पर किसी तरह का दबाव न हो, इसके लिए यह किया गया है जबकि कोरोना संक्रमण के पहले निष्कासित किया जाता था।

केंद्र को 45 हजार करोड़ से अधिक का जीएसटी

केंद्र को 45 हजार करोड़ से अधिक का जीएसटी   

दुष्यंत टीकम     
रायपुर। छत्‍तीसगढ़ में जीएसटी कलेक्शन में लगातार बढ़ोतरी हो रही है। बीते पांच वर्षों में प्रदेश से केंद्र को 45 हजार करोड़ से अधिक का जीएसटी मिला है। जीएसटी कलेक्शन में साल-दर-साल बढ़ोतरी हो रही है। वित्तीय वर्ष 2021-22 में जीएसटी कलेक्शन में 35.27 फीसद की बढ़ोतरी हुई। विभागीय अधिकारियों से मिली जानकारी के अनुसार बीते पांच वर्षों में प्रदेश को सीजीएसटी के रूप में 45,784.87 करोड़ रुपये मिले हैं।
गौरतलब है कि गुड्स एंड सर्विस टैक्स (जीएसटी) देश भर में एक जुलाई 2017 को लागू हुआ। जीएसटी विभाग से मिली जानकारी के अनुसार वित्तीय वर्ष 2017-18 में सीजीएसटी के रूप में 4763.87 करोड़ रुपये मिले थे। इसके बाद से जीएसटी कलेक्शन में लगातार बढ़ोतरी हो रही है। बताया जा रहा है कि स्टील की कीमतों में पिछले दिनों हुई जबरदस्त बढ़ोतरी के चलते इस सत्र में जीएसटी कलेक्शन में ज्यादा बढ़ोतरी देखने को मिली।

‘अखबार बचाओ महासंघ’ का गठन, अध्यक्ष चुना

‘अखबार बचाओ महासंघ’ का गठन, अध्यक्ष चुना 

अकांशु उपाध्याय          
नई दिल्ली। मीडियाकर्मियों व प्रकाशकों के हितों के लिए सशक्त कार्य करने हेतु देश के प्रतिष्ठित मीडिया संगठनों ने संयुक्त रूप से ‘अखबार बचाओ महासंघ’ का गठन किया है। महासंघ की ‘स्थायी संचालन समिति’ द्वारा अखिलेश चन्द्र शुक्ल को सर्वसम्मति से राष्ट्रीय अध्यक्ष चुना गया है।
महासंघ ‘प्रेस काउंसिल ऑफ इंडिया’ के सदस्यों सर्व गुरिन्दर सिंह, बलदेव राज गुप्ता, जयशंकर गुप्ता, श्याम सिंह पंवार, एड. शैलेन्द्र दुबे, एल. सी. भारतीय तथा पूर्व पीसीआई सदस्यों सर्व सुनील डंग, अशोक कुमार नवरत्न, राकेश शर्मा (राष्ट्रदूत), अमर देवपल्ली आदि के मार्गदर्शन में कार्य करेगा। इंडियन एसोसिएशन ऑफ प्रेस एन मीडियामेन के राष्ट्रीय अध्यक्ष पवन सहयोगी को महासंघ का राष्ट्रीय संयोजक चुना गया हैं। महासंघ के संयोजकों प्रदेश संयोजकों में सर्वश सुधीर पांडा (सदस्यः केन्द्रीय मीडिया प्रत्यायन समिति), एस. एम. आसिफ, अवधेश कुमार सिंह, संजय शर्मा, शिवशरण सिंह गहरवार, डी. डी. मित्तल, मलय बैनर्जी, लक्ष्मण पटेल, अर्जुन कुमार जैन, डा. अनवर अली खां, विश्वनाथ स्वामी, शिबू खां व हरपाल सिंह यादव सम्मलित हैं।
विगत वर्षों में समाचार पत्रों के प्रकाशकों-सम्पादकों-पत्रकारों के कार्यक्षेत्र में सरकार द्वारा परोक्ष या परोक्ष रूप से अवरोध उत्पन्न करने तथा प्रेस की आजादी पर अंकुश लगाने का निरंतर प्रयास किया जा रहा है। पिछले दिनों पत्रकारों पर हुई एफआईआर व अन्य कार्रवाही चिन्ताजनक हैं। ऐसी स्थिति में पत्रकारों-प्रकाशकों के हितों के संरक्षण एवं सवर्धन के लिए देश के प्रतिष्ठित मीडिया संगठनों द्वारा संयुक्त रूप में ‘अखबार बचाओ महासंघ’ का गठन किया है जो प्रेस काउंसिल ऑफ इंडिया के दर्जनभर सदस्योें/ पूर्व सदस्यों व प्रतिष्ठित मीडियाकर्मियों के नेतृत्व में कार्य करेगा। महासंघ सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय, आरएनआई, पीआईबी, डीएवीपी व राज्य सरकारों के जनसम्पर्क निदेशालयों से वार्ता कर उक्त घटनाओं पर अपना विरोध दर्ज करेगा तथा अपने हितों के लिए विधिसम्मत संर्घष करेगा।
नवनियुक्त अध्यक्ष अखिलेश चंद्र शुक्ल विगत कई दशकों से मीडियाकर्मियों के हितों के लिए कार्यरत है तथा प्रेस कांउसिल ऑफ इंडिया द्वारा अधिसूचित संगठन ‘अखिल भारतीय समाचार पत्र एसोसियशन’ के राष्ट्रीय अध्यक्ष है। श्री शुक्ल ने इस अवसर पर कहा कि वर्तमान में मीडिया की स्थिति वाकई चिन्ताजनक है। छोटे व मझोले अखबार सरकार की नीतियों के कारण दम तोड रहे हैं। इसके लिए सशक्त आवाज उठाने की नितांत आवश्यकता है। महासंघ अपने उद्देश्यों के अनुसार मीडियाकर्मियों के हितों के लिए कार्य करेगा।

राष्ट्रपति पद का चुनाव, 10 से प्रारंभ हुआ पहला चरण

राष्ट्रपति पद का चुनाव, 10 से प्रारंभ हुआ पहला चरण 

अखिलेश पांडेय             
पेरिस। राष्ट्रपति पद के चुनाव के लिए फ्रांस में वोटिंग का पहला चरण रविवार, 10 अप्रैल से शुरू हुआ। इसी के साथ राष्ट्रपति चुनाव में हिजाब और बुर्के की एंट्री हो गई है। मौजूदा राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों के सामने चुनौती दे रही दक्षिणपंथी उम्मीदवार मरीन ली पेन ने चुनाव के दौरान हिजाब का मुददा उछालते हुए कहा है कि सरकार में आने पर हिजाब पर प्रतिबंध लगाते हुए पहनने वालों के ऊपर जुर्माना लगाया जायेगा।
रविवार से फ्रांस के भीतर राष्ट्रपति पद के लिए मतदान का पहला चरण आरंभ हो गया है। इस बार मौजूदा राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों के सामने दक्षिणपंथी उम्मीदवार मरीन ली पेन कड़ी चुनौती पेश कर रही है। मौजूदा समय में हो रहे चुनाव में दोनों उम्मीदवारों के बीच कांटे की टक्कर मानी जा रही है। इस हफ्ते हुए सर्वे के मुताबिक राष्ट्रपति पद का दोबारा से चुनाव लड़ रहे मैक्रों और मरीन ली पेन के बीच महल 3 फ़ीसदी वोटों का अंतर रह गया है।
राजनीतिक पंडितों के मुताबिक पहले दौर में किसी भी उम्मीदवार को 50 प्रतिशत से ज्यादा वोट मिलने की संभावना नहीं है। लिहाजा राष्ट्रपति की हार जीत का फैसला दूसरे दौर के मतदान ही हो पाएगा। इस चरण में 24 अप्रैल को पहले चरण में सबसे ऊपर रहने वाले दो उम्मीदवारों के बीच टक्कर देखने को मिलेगी।
आज रविवार को पहले चरण की वोटिंग का सिलसिला शुरू होते ही चुनाव में हिजाब का मामला भी उछाल दिया गया है। दक्षिणपंथी उम्मीदवार मरीन ली पेन ने वादा किया है कि अगर वह सत्ता में आती हैं तो हिजाब पहनने वाले मुस्लिमों पर जुर्माना लगाया जाएगा। भारत समर्थक ली पेन ने कहा है कि जिस तरह गाड़ियों में सीट बेल्ट पहनने को अनिवार्य बनाया गया है। उसी तरह से इस फैसले को भी सख्ती के साथ लागू किया जाएगा कि मुसलमान सार्वजनिक स्थानों पर हिजाब नहीं पहने।

पीएम को कन्वींस नहीं कर सके, वह काहे के मंत्री

पीएम को कन्वींस नहीं कर सके, वह काहे के मंत्री   

नरेश राघानी     
बीकानेर। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने केन्द्रीय जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत को रविवार को फिर आड़े हाथों लेते हुए कहा कि वह एक परियोजना को राष्ट्रीय परियोजना घोषित नहीं करवा सकते और प्रधानमंत्री को कन्वींस नहीं कर सके, वह काहे के मंत्री है। गहलोत ने बीकानेर दौरे के दौरान यह बात कही।
उन्होंने कहा कि राजस्थान ने 25 सांसद जीताकर दिए हैं, राजस्थान का हमारा जलसंसाधन मंत्री बना है। कम से कम एक परियोजना को तो राष्ट्रीय परियोजना घोषित करवाएं। इतनी ही उसकी औकात नहीं है। वह काहे का मंत्री है, जो प्रधानमंत्री को कन्वींस नहीं कर सके। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री का बोला हुआ शब्द एक बार उसे अलग कर दो, तब भी इतनी हैसियत होनी चाहिए कि प्रधानमंत्री से कहकर एक राष्ट्रीय परियोजना घोषित कराए कि मेरे राजस्थान का मामला है प्रधानमंत्रीजी, इसको तो करना पड़ेगा।
चालीस साल का इतिहास उठाकर देख लीजिए, मैं खुद सांसद रहा हूं, आज राजस्थान का नक्शा बदल गया, हमने काम करवाए। इनसे पूछिए पांच साल में राजस्थान के लिए किया क्या किया। इससे पहले गहलोत ने शनिवार को भी कहा था कि प्रधानमंत्री ने पता नहीं क्या देखकर इनका चयन किया है और पानी जैसा विभाग इन्हें दिया है। सबसे महत्वपूर्ण विभाग कोई मेरी दृष्टि में राजस्थान के लिए होता है तो वह पानी का होता है। उन्होंने कहा कि राजस्थान में सदियों से अकाल एवं सूखे पड़ते रहते हैं और शेखावत तो यह बचपन से ही जानते हैं, फिर भी राजस्थान के लिए पैरवी नहीं कर रहे हैं।

अल्पसंख्यकों का समर्थन हासिल करने की कोशिश

अल्पसंख्यकों का समर्थन हासिल करने की कोशिश  

इकबाल अंसारी              
हैदराबाद। भाजपा अपने मुस्लिम नेताओं के जरिए तेलंगाना में अल्पसंख्यकों का समर्थन हासिल करने की कोशिश कर रही है। लेकिन इस कोशिश में भाजपा नेताओं को काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। ऐसे ही एक मामले में भाजपा के एक मुस्लिम नेता को अपने ही कौम के लोगों के विरोध का सामना करना पड़ा। दरअसल, भाजपा नेता ने मस्जिद के लिए कूलर दान किए थे। लेकिन नमाजियों ने इस दान को अस्वीकार करते हुए सारे कूलर उठाकर मस्जिद से बाहर फेंक दिए्।
तेलंगाना के विकाराबाद जिले के भाजपा नेता मोहम्मद अनवर ने नमाजियों को गर्मी से निजात देने के लिए मस्जिद को कई सारे कूलर दान में दिए थे। इस दौरान उन्होंने मस्जिद में मौजूद लोगों से कहा, ‘बीजेपी ने मुसलमानों के लिए बहुत कुछ किया है। बीजेपी मुसलमानों से बहुत प्रेम करती है, दरअसल कांग्रेस ने मुसलमानों को बीजेपी से दूर किया है।
भाजपा नेता मोहम्मद अनवर की ओर से मस्जिद को दान में कूलर देने के बाद भी विकाराबाद की मुस्लिम जनता उनसे काफी नाराजगी जताई। मुस्लिम जनता ने मोहम्मद अनवर की ओर से मस्जिद को दान में दिया हुआ कूलर उठाकर बाहर फेंक दिया। फिर सभी कूलर मस्जिद के बाहर से उठाकर उनके घर के बाहर लाकर पटक दिया। यह घटना विकाराबाद जिले के बवंटाराम मंडल के तोरुमामिडी इलाके की है।

13 हजार फीट की ऊंचाई से गिरीं महिला, मात दीं

13 हजार फीट की ऊंचाई से गिरीं महिला, मात दीं   

सुनील श्रीवास्तव              
रिचमंड। एक 35 वर्षीय महिला ने करीब साढ़े 13 हजार फीट की ऊंचाई से गिरने के बाद भी मौत को मात दे दी। महिला का नाम जॉर्डन हाटमाकेर है। जॉर्डन वर्जीनिया की रहने वाली हैं और एक स्काईडाइवर हैं। 
'द सन' के मुताबिक, महीने भर अस्पताल में भर्ती रहने के बाद अब वो फिर से स्काईडाइविंग के लिए तैयार हैं। हाल ही में उन्होंने अपने साथ हुए इस हादसे के बारे में बताया। जॉर्डन कहती हैं कि ये सबकुछ सिर्फ 30 सेकेंड के अंदर हुआ था। वो करीब साढ़े 13 हजार फीट की ऊंचाई से नीचे कूदी थी। लेकिन जैसे ही उन्होंने पैराशूट खोलना चाहा तो पता चला कि पैराशूट उनके पैरों में उलझ गया है। इसके बाद वो करीब 200 किमी/घंटे की स्पीड से जमीन की तरफ गिरने लगीं। चंद सेकेंड में जॉर्डन आसमान से नीचे गिरीं और दर्द से कराहने लगी। उन्हें यकीन था कि अब वो जिंदा नहीं बचेंगी। लेकिन होनी को कुछ और मंजूर था।
बकौल जॉर्डन जमीन पर गिरते ही उनका पैर टूट गया, एड़ियां भी डैमेज हो गईं। उनकी रीढ़ की हड्डी भी टूट गई थी। वो कहती हैं कि मेरी बॉडी का शायद ही कोई ऐसा हिस्सा होगा, जो डैमेज ना हुआ हो। लेकिन इतनी ऊंचाई से गिरने के बाद भी वो होश में थीं और उस दर्द को महसूस कर रही थीं। 
इस हादसे के बाद जॉर्डन करीब 25 दिन अस्पताल में रहीं। उन्हें वापस अपने पैरों पर चलने में तीन महीने का समय लगा। फिलहाल वो ठीक हैं और पूरी तरह रिकवर होने का इंतजार कर रही हैं। जॉर्डन कहती हैं कि स्काईडाइविंग उनका सपना है और वो इसको नहीं छोड़ सकती। जल्द ही वो फिर से आसमान से छलांग लगाना चाहती हैं।

भारत एक फेडरल रिपब्लिक यूनियन हैं: येचुरी

भारत एक फेडरल रिपब्लिक यूनियन हैं: येचुरी   

इकबाल अंसारी         
तिरुवनंतपुरम/रांची। सीताराम येचुरी को भारत की कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी) का फिर राष्‍ट्रीय महासचिव बनाया गया है। नई केंद्रीय कमेटी के लिए झारखंड से प्रकाश विप्लव निर्वाचित हुए। केरल के कन्नूर में 23वीं पार्टी, कांग्रेस में 85 सदस्यीय केंद्रीय कमेटी और 17 सदस्यीय पोलिट ब्यूरो का चुनाव किया गया।
पार्टी कांग्रेस 10 अप्रैल को समाप्त हो गयी। इस मौके पर ईके नयनार नगर, कन्नूर स्टेडियम में विशाल जनसभा संपन्न हुई। इसमें 3 लाख से ज्यादा लोगों ने हिस्सा लिया। जनसभा को केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन के अलावा पार्टी के राष्ट्रीय नेतृत्व ने संबोधित किया।
नवनिर्वाचित महासचिव सीताराम येचुरी ने कहा कि इंडिया, यानी भारत एक फेडरल रिपब्लिक यूनियन है। यह यूनियन राज्यों के संघ से बना है। इसलिए अनेकता में एकता की जो हमारी विरासत है, उसे कमजोर किए जाने की किसी भी साजिश का मुंहतोड़ जवाब दिया जाएगा।
येचुरी ने तथा कथित सांप्रदायिक हिंदुत्व की उन्मादी और विषाक्त विचारधारा के खिलाफ बिना थके संघर्ष चलाने का आह्वान किया। उन्‍होंने कहा कि देश की वसुधैव कुटुम्बकम की गौरवशाली परंपरा और सभी धर्मों का सम्मान एवं भारत के संविधान में उल्लेखित समानता की परिकल्पना कमजोर नहीं होने देंगे।

दैनिक सामान खरीदने के लिए गहने बेचने को मजबूर

दैनिक सामान खरीदने के लिए गहने बेचने को मजबूर  

सुनील श्रीवास्तव               
कोलंबो। श्रीलंका की खस्ताहाली का अंदाजा इससे भी लगाया जा सकता है कि लोग अनाज व अन्य जरूरी दैनिक सामान खरीदने के लिए घर के गहने बेचने को मजबूर हो गए हैं। कोलंबो के सबसे बड़े सराफा बाजार कोलंबो गोल्ड सेंटर के कई कारोबारियों ने बताया कि लोगों को दैनिक सामान की खरीद के लिए गहने बेचने पड़ रहे हैं। कारोबारी सिल्वा के अनुसार, ‘हमने श्रीलंका में ऐसा संकट पहले कभी नहीं देखा। श्रीलंकाई मुद्रा की कीमत में ऐतिहासिक गिरावट के बाद गहनों के खरीदारों की संख्या बहुत कम हो गई है और बेचने वालों की बहुत ज्यादा।’
श्रीलंका 1948 में आजादी मिलने के बाद से अबतक के सबसे भीषण आर्थिक व राजनीतिक संकट का सामना कर रहा है। श्रीलंकाई रुपया सबसे कमजोर प्रदर्शन करने वाली मुद्रा बन चुकी है। शनिवार को एक श्रीलंकाई रुपया की कीमत 315 डालर थी। निजी मनी एक्सचेंज तो एक डालर के लिए 345-380 श्रीलंकाई रुपये तक चार्ज कर रहे हैं। 24 कैरेट सोने की कीमत 2.05 लाख श्रीलंकाई रुपये तक पहुंच गई है।
श्रीलंका के वित्त मंत्री अली साबरी ने शनिवार को कहा कि आर्थिक संकट से पार पाने और आवश्यक सामग्री की आपूर्ति श्रृंखला दुरुस्त करने के लिए देश को अगले छह महीने में तीन अरब डालर की मदद की जरूरत होगी। उन्होंने कहा, ‘यह अत्यंत कठिन काम है।’ रायटर से खास बातचीत में साबरी ने कहा, ‘हम अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आइएमएफ) से बातचीत के लिए तैयार हैं। अंतरराष्ट्रीय संप्रभु बांड के पुनर्गठन, ऋण भुगतान स्थगन व जुलाई में एक अरब डालर के कर्ज की अदायगी के लिए और वक्त मांगने जैसे प्रयास कर रहे हैं।’ जेपी मार्गन के विश्लेषकों का मानना है कि श्रीलंका का मौजूदा वित्तीय घाटा तीन अरब डालर होने को है और यह साल के अंत तक सात अरब डालर हो जाएगा।
एएनआइ के अनुसार, श्रीलंका का संसद सत्र 19 से शुरू होकर 22 अप्रैल तक चलेगा। उल्लेखनीय है कि तीन अप्रैल को 26 कैबिनेट मंत्रियों ने इस्तीफा दे दिया था। 42 सांसदों के साथ छोड़ने के बाद सरकार अल्पमत में आ चुकी है। विपक्ष राष्ट्रपति गोटाबाया राजपक्षे के खिलाफ महाभियोग लाने की तैयारी में है।

मस्जिद के चंदे को लेकर 2 पक्षों के बीच विवाद

मस्जिद के चंदे को लेकर 2 पक्षों के बीच विवाद   

संदीप मिश्र      
सहारनपुर। गांव में बन रही मस्जिद के चंदे को लेकर दो पक्षों के बीच विवाद हो गया। एक पक्ष की ओर से जब 8 लाख रूपये के गबन का आरोप लगाया गया तो दोनों पक्ष आमने-सामने आ गए। दोनों पक्षों के बीच चले लाठी-डंडों की चपेट में आकर कई लोग घायल हो गए। सूचना पर दौड़ी पुलिस ने बवाल काट रहे लोगों को डंडे फटकार कर दूर तक दौड़ाया। पुलिस ने इस घटना में घायल हुए लोगों को इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया है।
दरअसल सहारनपुर की देहात कोतवाली क्षेत्र के पीकी गांव में मुस्लिम समाज के लोगों द्वारा एक मस्जिद का निर्माण कराया जा रहा है, जिसके लिए नागरिक जमकर चंदा दे रहे हैं। इसी चंदे के पैसे को लेकर शनिवार की देर रात दो पक्षों के बीच विवाद हो गया। एक पक्ष ने जब दूसरे पक्ष के ऊपर 8 लाख रुपए के गबन का आरोप लगाया तो दूसरा पक्ष इसका विरोध करते हुए लाठी डंडे लेकर सामने आ गया। आरोप लगाने वाले पक्ष के लोगों की तरफ से भी लाठी-डंडे बाहर निकल आए। देखते ही देखते गाली गलौज के साथ एक दूसरे पर लाठी-डंडों से हमला होने लगा। इसी बीच दोनों पक्षों की ओर से एक दूसरे पर पथराव कर दिया गया जिससे गांव में भगदड़ मच गई। मामले की जानकारी पाते ही देहात कोतवाली पुलिस गांव में पहुंची, लेकिन दोनों पक्ष के लोग कोतवाली पुलिस के सामने ही एक दूसरे का मुकाबला करते हुए पथराव करते रहे। बाद में पुलिस ने जिला मुख्यालय पर जानकारी देकर अतिरिक्त फोर्स को बुलवाया, जिसके चलते कुतुबशेर, जनकपुरी, सिटी कोतवाली और मंडी कोतवाली पुलिस गांव में पहुंची और डंडे फटकार कर बवालियो को दूर तक खदेड़ा।
एसपी सिटी राजेश कुमार ने बताया है कि फिलहाल गांव में मामला शांत है, अभी किसी भी पक्ष की ओर से पुलिस को तहरीर नहीं दी गई है। एसपी सिटी का कहना है कि यदि दोनों पक्षों की ओर से तहरीर नहीं दी जाती है तो पुलिस की तरफ से इस मामले में मुकदमा दर्ज कर कार्यवाही की जाएगी। उन्होंने कहा है कि कानून-व्यवस्था किसी को भी हाथ में नहीं लेने दी जाएगी।

मेट्रो स्टेशन पर ‘बैगेज स्कैनर’ लगाना प्रारंभ किया

मेट्रो स्टेशन पर ‘बैगेज स्कैनर’ लगाना प्रारंभ किया  

अकांशु उपाध्याय                    
नई दिल्ली। दिल्ली मेट्रो रेल निगम (डीएमआरसी) ने अतिरिक्त सुरक्षा प्रदान करने के मद्देनजर चरणबद्ध तरीके से मेट्रो स्टेशन पर अत्याधुनिक ‘बैगेज स्कैनर’ (सामान की जांच करने वाली मशीन) लगाना शुरू कर दिया है। अधिकारियों ने रविवार को यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि इन नए ‘बैगेज स्कैनर’ में उन्नत सुविधाओं की वजह से बुजुर्गों और महिला यात्रियों को स्कैनिंग के लिए भारी सामान उठाने और रखने के दौरान अधिक सहूलियत होगी। 
डीएमआरसी ने कहा कि वर्तमान में कश्मीरी गेट, एम्स, विश्वविद्यालय, हुडा सिटी सेंटर, राजौरी गार्डन, मयूर विहार फेज-1, नोएडा सेक्टर-18, पालम स्टेशन पर एक्स-बीआईएस सिस्टम के स्थान पर यात्रियों के अनुकूल सुविधाओं वाले 34 ऐसे ‘बैगेज स्कैनर’ पहले ही लगाए जा चुके हैं। धीरे-धीरे इस साल के अंत तक दिल्ली मेट्रो के सभी स्टेशन पर ऐसे 250 से अधिक ‘बैगेज स्कैनर’ लगाए जाएंगे। वर्तमान में डीएमआरसी नेटवर्क में विभिन्न मेट्रो स्टेशन पर लगभग 400 एक्स-बीआईएस मशीन लगे हैं। सिस्टम’ (एक्स-बीआईएस सिस्टम) को और उन्नत बनाने के लिए डीएमआरसी ने चरणबद्ध तरीके से अत्याधुनिक ‘बैगेज स्कैनर’ लगाना शुरू कर दिया है।’’ ये उन्नत ‘बैगेज स्कैनर’ अतिरिक्त सुविधाओं से लैस हैं, जिनमें सामान की तेज निकासी, उन्नत और प्रभावी निगरानी, निरंतर ऑडियो-वीडियो निगरानी शामिल हैं।
ये स्कैनर अब प्रति घंटे 550 बैग तक की जांच करने में सक्षम होंगे, जबकि पहले वाली मशीन लगभग 350 बैग प्रति घंटे जांच करने में सक्षम थी। इसके लिए ‘कन्वेयर बेल्ट’ की गति 18 सेमी प्रति सेकेंड से बढ़ाकर 30 सेमी प्रति सेकेंड कर दी गई है। अधिकारियों ने कहा कि इसका उद्देश्य विशेष रूप से व्यस्त समय के दौरान तलाशी लेने वाले स्थानों पर यात्रियों की भारी भीड़ को कम करना है। उन्होंने कहा कि इन नए ‘बैगेज स्कैनर’ में उन्नत सुविधाएं यात्रियों के लिए सुरक्षा सुनिश्चित करेंगी और बुजुर्गों और महिला यात्रियों को स्कैनिंग के दौरान भारी सामान उठाकर रखने और उतारने के दौरान भी आसानी होगी।
अधिकारियों ने कहा कि ‘बैगेज स्कैनर’ के ठीक ऊपर लगा एक 360-डिग्री कैमरा एक्स-बीआईएस प्रक्रिया के स्पष्ट ऑडियो और वीडियो फुटेज को लेने में सक्षम होगा, जो किसी भी अप्रिय घटना जैसे चोरी, यात्रियों के बीच विवाद, सुरक्षा कर्मचारियों के मामले में उपयोगी हो सकता है। स्कैनिंग मशीन के लिए ड्यूटी पर लगे बैगेज ऑपरेटर (केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल कर्मी) के लिए उपलब्ध अन्य सहायक प्रावधानों में वायरलेस सेट, मेटल डिटेक्टर और मोबाइल फोन के लिए चार्जिंग पोर्ट शामिल हैं।

भाजपा नेता ने फिल्मी कलाकार पर साधा निशाना

भाजपा नेता ने फिल्मी कलाकार पर साधा निशाना  

अकांशु उपाध्याय           

नई दिल्ली। भाजपा को छोड़ कर तृणमूल कांग्रेस में गए फिल्मी कलाकार एवं राजनेता शत्रुघ्न सिन्हा पर भाजपा नेता रविशंकर प्रसाद ने जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि क्या गारंटी है कि वह अगले लोकसभा चुनाव तक तृणमूल में ही रहेंगे। पटना साहिब की आपसी राजनीतिक प्रतिद्वंद्विता आसनसोल में होने जा रहे उपचुनाव में भी परिलक्षित हुई जब भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता रविशंकर प्रसाद ने बार-बार पाला बदलने को लेकर शत्रुघ्न सिन्हा पर निशाना साधते हुए कहा कि उन्हें आश्चर्य है कि क्या वह अगले संसदीय चुनाव में तृणमूल कांग्रेसे में ही रहेंगे। प्रसाद ने बंगाल में कथित रूप से बिगड़ती कानून व्यवस्था को लेकर चिंता प्रकट की और मांग की कि आसनसोल लोकसभा सीट पर 12 अप्रैल को होने वाले उपचुनाव के दौरान सभी मतदान केंद्रों पर सीआरपीएफ कर्मियों की तैनाती की जानी चाहिए ताकि स्वतंत्र एवं निष्पक्ष चुनाव सुनिश्चित हो सके।  इस बात की क्या गांरटी है कि वह अगले लोकसभा चुनाव तक तृणमूल कांग्रेस का ही हिस्सा रहेंगे। वह भाजपा से कांग्रेस में गये, फिर तृणमूल में गये। जिस व्यक्ति को मैंने पटना साहिब लोकसभा क्षेत्र में हराया वह यहां चुनाव लड़ने आए हैं।

2019 के लोकसभा चुनाव में पटना साहिब में प्रसाद एवं सिन्हा के बीच का चुनावी मुकाबला चर्चा का विषय रहा था। लोकसभा सदस्य रविशंकर प्रसाद ने आरोप लगाया कि तृणमूल कांग्रेस शासित पश्चिम बंगाल में भय का माहौल बना है। प्रसाद ने यहां संवाददाताओं से कहा, ”मैं निर्वाचन आयोग से अपील करूंगा कि आसनसोल में बड़ी संख्या में केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल के जवान तैनात किए जाएं।

जवानों के बीच मुठभेड़ में 1 आतंकी मारा गया

जवानों के बीच मुठभेड़ में 1 आतंकी मारा गया 

इकबाल अंसारी       
श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर में इन दिन आतंकियों की गतिविधियां काफी बढ़ गई है। आए दिन सुरक्षा बलों क साथ मुठभेड़ हो रही है। बीते दिन कुलगाम और अनंतनाग में आतंकियों और सुरक्षाबलों के बीच मुठभेड़ हुई थी। सुरक्षा बलों की जवाबी कार्रवाई में लश्कर-ए-तयेबा का एक स्थानीय सरगना निसार डार मारा गया था। श्रीनगर में केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के जवानों पर हाल में हुए हमले में शामिल एक और आतंकवादी को जवानों ने रविवार को मुठभेड़ में ढेर कर दिया। वहीं मुठभेड़ में तीन सुरक्षाकर्मी भी घायल हो गए है।
आतंकवादियों के छुपे होने की मिली थी सुचना :
घटना को लेकर इलाके में आतंकवादियों की मौजूदगी की सूचना मिलने पर सुरक्षाबलों ने इलाके की घेराबंदी कर तलाश अभियान शुरू किया था, जिसके बाद आतंकवादियों ने उन पर गोलीबारी शुरू कर दी। जिसके बाद भारतीय जवानो ने भी मुँह तोड़ जवाब दिया।अब तक कुल दो आतंकवादियों को सेना ने मार गिराया है जिनमे एक की पुष्टि निसार डार के तौर पर हुई है और दूसरे की शिनाख्त अभी नहीं हो पाई है।
जम्मू कश्मीर पुलिस का ये मानना है कि हाल फ़िलहाल के दिनों में कश्मीर में मिलिटेंट्स की घुसपैठ बढ़ गयी है जो श्री नगर शहर के आस पास वाले इलाको में हो सकते हैं। पुलिस हलाकि कहा है कि इनको किसी भी हाल में इनके इरादों को अंजाम देने नहीं दिया जायेगा और हर हाल में इन्हे खोज कर मार गिराया जायेगा।बहरहाल मुठभेड़ अभी ख़त्म हो गयी है लेकिन CRPF और कश्मीर पुलिस का सर्च ऑपरेशन ज़ारी रहेगा।

वैश्विक महामारी के खिलाफ सतर्कता, अपील

वैश्विक महामारी के खिलाफ सतर्कता, अपील  

इकबाल अंसारी               

अहमदाबाद। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को कहा कि कोरोना वायरस गया नहीं है और यह बार-बार सामने आ रहा है। साथ ही, उन्होंने लोगों से कोरोना वायरस, वैश्विक महामारी के खिलाफ सतर्कता बरतना जारी रखने की अपील भी की। मोदी ने कहा कि किसी को नहीं पता कि ‘बहरूपिया’ कोविड-19 फिर कब सामने आ जाए।न्होंने कहा कि कोविड-19 को फैलने से रोकने के लिए टीकों की करीब 185 करोड़ खुराक देने का काम लोगों के सहयोग से ही संभव हो पाया। मोदी ने गुजरात के जूनागढ़ जिले में मां उमिया धाम के एक कार्यक्रम को वीडियो कांफ्रेंस के जरिए संबोधित करते हुए मां उमिया के भक्तों से धरती मां को रासायनिक उर्वरकों के संकट से बचाने के लिए प्राकृतिक खेती के तरीके अपनाने का आग्रह किया।

प्रधानमंत्री ने कहा कि कोरोना वायरस (वैश्विक महामारी) एक बड़ा संकट था और हम यह नहीं कह रहे कि संकट समाप्त हो गया है। यह कुछ देर के लिए भले ही थम गया है, लेकिन हमें नहीं पता कि यह फिर से कब सामने आ जाएगा। यह एक ‘बहरूपिया’ बीमारी है। इसे रोकने के लिए करीब 185 करोड़ खुराक दी गईं, जिसने दुनिया को अचम्भित कर दिया। यह आपके सहयोग से ही संभव हो पाया।

उन्होंने कहा कि धरती मां को बचाने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा, ‘‘गुजरात के हर गांव के किसानों को प्राकृतिक खेती के लिए आगे आना चाहिए।’’ उन्होंने भारत की स्वतंत्रता के 75वें साल में आयोजित किए जा रहे ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ कार्यक्रम के तहत हर जिले में 75 अमृत सरोवर बनाने में मदद करने की भी लोगों से अपील की।

4-6 घंटे बिजली कटौती का सामना कर रहें लोग

4-6 घंटे बिजली कटौती का सामना कर रहें लोग   

इकबाल अंसारी 
अमरावती। आंध्र प्रदेश इस समय बिजली संकट से जूझ रहा है। खबर है कि राज्य के थर्मल पावर स्टेशन में कोयला की कमी के चलते यह संकट खड़ा हुआ है। वहीं, अधिकारियों का मानना है कि कोविड-19 के बाद अचानक बढ़ी मांग ने यह परेशानी खड़ी कर दी है। हालात यह हो गए हैं कि राज्य में बिजली को विनियमित करने पर मजबूर होना पड़ा है। हालात इस कदर खराब हो चुके हैं कि राज्य के कई हिस्सों में लोग 4-6 घंटे बिजली कटौती का सामना कर रहे हैं। विपक्षी दलों ने सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है।
रिपोर्ट के अनुसार, पावर रेग्युलेशन के चलते सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रहे किसान और नागरिक परेशान हो रहे हैं। इधर, बिजली की बढ़ी दरों ने भी परेशानियों में इजाफा किया है। राज्य में बिजली की कीमत 60 प्रतिशत बढ़ गई हैं। इसके अलावा टैरिफ में 1.40 रुपये प्रति यूनिट (76 से 125 यूनिट के लिए) और 1.57 रुपये (126 से 220 यूनिट) के लिए बढ़ गए हैं। पूर्व केंद्रीय मंत्री काला वेंकट राव के अनुसार, कीमतों में इजाफा होने के चलते नागरिकों पर 16 हजार 611 करोड़ रुपये का भार पड़ेगा।
राज्य में बिजली संकट इस कदर बढ़ा हुआ है कि उद्योगों को शुक्रवार से बिजली अवकाश पर भेज दिया है। 24 घंटे काम करने वाले उद्योगों को केवल जरूरत का 50 फीसदी इस्तेमाल करने के लिए कहा गया है। अधिसूचना के अनुसार, सभी उद्योगों को वर्किंग डे 5 दिन करने के लिए कहा गया है।
जिन सरकारी अस्पतालों में पावर जनरेटर नहीं है, वहां हालात ज्यादा खराब नजर आ रहे हैं। रिपोर्ट के अनुसार, इस सप्ताह अनाकपल्ली जिला के।नरसीपाटनम सरकारी अस्पताल में डॉक्टरों को सेल फोन की फ्लैशलाइट की मदद से डिलीवरी करनी पड़ी, क्योंकि अस्पताल में करीब 8 घंटे से बिजली गायब थी।
बीते साल अक्टूबर में मुख्यमंत्री वाईएस जगन मोहन रेड्डी ने केंद्र से केंद्र सरकार से मामले में दखल देने की मांग की थी। उन्होंने बिजली की मांग पूरी करने के लिए सरकार से कोयला के 20 रैक मांगे थे। इधर, भाजपा ने बिजली संकट के लिए केंद्र सरकार की नीतियों पर आरोप लगाने के चलते राज्य सरकार पर नाराजगी जाहिर की है।

टैक्स असिस्टेंट सहित कई पदों पर भर्ती, ऐलान

टैक्स असिस्टेंट सहित कई पदों पर भर्ती, ऐलान   

अकांशु उपाध्याय        
नई​ दिल्ली। अगर आप सरकारी नौकरी की तलाश में हैं तो यह आपके लिए एक अच्छी खबर हो सकती है। दरअसल भारतीय आयकर विभाग ने टैक्स असिस्टेंट सहित कई पदों पर भर्ती करने का ऐलान किया है। इन पदों के लिए आवेदन की प्रक्रिया शुरू की जा चुकी है और लास्ट डेट काफी नजदीक है। बता दें इच्छुक उम्मीदवार इन पदों के लिए रजिस्टर्ड डाक के जरिए 18 अप्रैल 2022 तक आवेदन कर पाएंगे। भर्ती से जुड़ी अन्य जानकारी के लिए ऑफिशियल वेबसाइट incometaxindia.gov.in पर जारी किए गए विज्ञापन को चेक कर सकते हैं। आयकर विभाग ने स्पोर्ट्स कोटे के तहत 24 पदों पर भर्तियों के लिए आवेदन आमंत्रित किए है।
इनकम टैक्स इंस्पेक्टर और टैक्स असिस्टेंट के पद पर आवेदन करने के इच्छुक उम्मीदवार के पास किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से डिग्री होनी चाहिए। वहीं, मल्टी-टास्किंग स्टाफ पद के लिए उम्मीदवार का 10वीं पास होना जरूरी है। इन सभी पदों के लिए उम्मीदवार का राष्ट्रीय या अंतरराष्ट्रीय खेल प्रतियोगिता में हिस्सा लिया होना चाहिए। अधिक खेल योग्यता व इस भर्ती से संबंधित जानकारी के लिए इच्छुक उम्मीदवार जारी किए गए नोटिफिकेशन को चेक कर सकते हैं।
इन पदों पर आवेदन करने के लिए उम्मीदवार की उम्र 30 साल से अधिक नहीं होनी चाहिए और वही आरक्षित वर्ग के उम्मीदवारों को अधिकतम उम्र की सीमा में सरकार के नियमानुसार विशेष छूट प्रदान की जाएगी।

स्मार्टफोन पर व्हाट्सएप लॉक करने का तरीका

स्मार्टफोन पर व्हाट्सएप लॉक करने का तरीका 


अकांशु उपाध्याय           

नई दिल्ली। सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म व्हाट्सऐप अपने यूजर्स के लिए कई प्राइवेसी फीचर्स प्रदान करता है। जैसे कि 2 स्टेप वेरिफिकेशन, मैसेज एन्क्रिप्शन, डिसअपीयरिंग मैसेज और अन्य। ऐसा ही एक फीचर है, जिसे ज्यादातर यूजर्स पसंद करते हैं, वह है व्हाट्सऐप लॉक। जैसा कि नाम से पता चलता है, फीचर चेहरे की पहचान या फिंगरप्रिंट सेंसर के साथ वेरिफिकेशन करने से पहले किसी को भी आपके स्मार्टफोन पर व्हाट्सऐप का इस्तेमाल करने से रोकता है।

बता दें यह फीचर एंड्रॉयड और आईओएस दोनों प्लेटफॉर्म के लिए उपलब्ध है। एक बार इनेबल होने के बाद आपको व्हाट्सऐप खोलने के लिए अपने फिंगरप्रिंट या फेस का इस्तेमाल करना होगा। इसमें ध्यान देने वाली बात यह है कि व्हाट्सऐप लॉक होने पर भी आप कॉल का जवाब दे सकते हैं। अब हम आपको एंड्रॉयड या आईओएस स्मार्टफोन पर व्हाट्सऐप लॉक करने का तरीका बताने जा रहे हैं। व्हाट्सऐप लॉक करने के लिए आप इन स्टेप को अपना सकते हैं।

सबसे पहले अपने आईफोन में व्हाट्सऐप ओपन करें। अब बॉटम के राइट कॉर्नर में आ रहे सेटिंग्स के ऑप्शन पर टैप करें। अब अकाउंट पर टैप करें। जिसके बाद आपके सामने वहां कई ऑप्शन आ जाएंगे, वहां से प्राइवेसी पर टैप करें। अब स्क्रॉल डाउन करें और स्क्रीन लॉक पर टैप करें। जिसके बाद टॉगल को ऑन कर दें। एक बार इसे इनेबल करने के बाद आपको अपना व्हाट्सऐप इस्तेमाल करने के लिए फेस आईडी या पिन का इस्तेमाल करना होगा।सबसे पहले अपने एंड्रॉयड स्मार्टफोन में व्हाट्सऐप ओपन करें। अब टॉप पर राइट कॉर्नर में आ रहे तीन डॉट के ऑप्शन पर टैप करें।अब मैन्यू में से सेटिंग्स पर टैप करें। अब वहां आपके सामने कई ऑप्शन आ जाएंगे, वहां से अकाउंट पर टैप करें। अब प्राइवेसी पर टैप करें और अब स्क्रॉल डाउन करें और फिंगरप्रिंट लॉक पर टैप करें। अब टॉगल को ऑन कर दें। एक बार इसे इनेबल करने के बाद आपको अपना व्हाट्सऐप इस्तेमाल करने के लिए फिंगरप्रिंट का इस्तेमाल करना होगा।

स्प्लेंडर सीरीज की बाइक्स के प्राइसेस में बढ़ोतरी

स्प्लेंडर सीरीज की बाइक्स के प्राइसेस में बढ़ोतरी 

अकांशु उपाध्याय      

नई दिल्ली। हीरो मोटोकॉर्प ने अपनी पॉपुलर स्प्लेंडर सीरीज की बाइक्स के प्राइसेस में बढ़ोतरी की घोषणा की है। बता दें स्प्लेंडर सीरीज अब 500 से 1,000 रुपये तक महंगी हो गई है। वहीं कीमतों में बढ़ोतरी के अलावा, बाइक पर कोई अन्य बदलाव नहीं किया गया है। बता दें स्प्लेंडर के अलावा हीरो मोटोकॉर्प की अन्य बाइक भी महंगी हो गई हैं। आइए जानते हैं स्प्लेंडर सीरीज की पूरी प्राइस लिस्ट।

स्प्लेंडर प्लस की कीमत अब 69380 रुपये है पहले यह 68590 रुपये थी। स्प्लेंडर प्लस i3S की कीमत 70700 रुपये है पहले 69790 रुपये थी। वहीं स्प्लेंडर प्लस i3S मैट शील्ड गोल्ड की कीमत अब 71700 रुपये है पहले ये 70790 रुपये थी। 2022 सुपर स्प्लेंडर ड्रम की कीमत 75700 रुपये है। पहले यह 74700 रुपये की थी। 2022 सुपर स्प्लेंडर डिस्क की कीमत 79600 रुपये है पहले इसकी कीमत 78600 रुपये थी। वहीं स्प्लेंडर प्लस 100 मिलियन, सुपर स्प्लेंडर ड्रम और सुपर स्प्लेंडर डिस्क को कंपनी ने बंद कर दिया है। औरबता दें हीरो सुपर स्प्लेंडर कम्यूटर बाइक में BS6 मानक के 124.7cc का सिंगल-सिलेंडर एयर-कूल्ड इंजन दिया गया है। जो 10.72 बीएचपी की पावर और 10.6 एनएम का टॉर्क जेनरेट करता है, वहीं स्प्लेंडर प्लस में 97.2cc का सिंगल-सिलेंडर एयर-कूल्ड इंजन दिया गया है। जो 8,000rpm पर 7.91bhp की पावर और 6,000rpm पर 8.05Nm का टॉर्क जेनरेट करता है।वहीं इस बीच, कंपनी ने हाल ही में घोषणा की है कि उसने मार्च 2022 में दोपहिया वाहनों की 4,50,154 यूनिट की सेल की है। स्प्लेंडर-निर्माता ने पिछले महीने घरेलू बाजार में 4,15,764 टूव्हीलर व्हीकल की सेल की, जबकि 34,390 यूनिट को एक्सपोर्ट किया गया। कंपनी ने कहा कि यह पिछले महीने बेची गई यूनिट के मुकाबले बढ़ोतरी है क्योंकि उसने फरवरी 2022 में 358,254 मोटरसाइकिल और स्कूटर डिलीवर किए।

कांग्रेस आलाकमान को चिट्ठी लिखकर दर्द बताया

कांग्रेस आलाकमान को चिट्ठी लिखकर दर्द बताया  

संदीप मिश्र        
लखनऊ। उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में मिली करारी हार के बाद अब कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सक्रिय हो गए हैं। राज्य में हुए विधानसभा चुनाव में पार्टी को मिली हार की समीक्षा की जा रही है और अब दशकों तक पार्टी के साथ खड़े रहने वाले वरिष्ठ कांग्रेसी नेताओं ने कांग्रेस आलाकमान को चिट्ठी लिखकर अपना दर्द बताया है और कहा कि राज्य में कांग्रेस को फिर से खड़ा करने के लिए पार्टी को सख्त फैसले लेने होंगे। वहीं कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं का कहना है कि अब पार्टी की कमान राज्य में जमीनी नेता को देनी चाहिए और इस पद पर किसी आयातित नेता को नियुक्त नहीं किया जाना चाहिए।
फिलहाल कांग्रेस के वरिष्ठ नेता आलाकमान को सच्चाई से रूबरू करा रहे हैं और वह बताना चाहते हैं कि पार्टी की हार क्यों हुई ? वरिष्ठ नेताओं का कहना कि राज्य में कैसे पार्टी के हालात सुधर सकते हैं, इस पर आलाकमान को मंथन करना चाहिए। इन नेताओं ने दर्द बंया करते हुए लिखा है कि पार्टी के सामने मुश्किल खड़ी है और उन्हें आलाकमान से मिलने का वक्त भी नहीं मिल पा रहा है। लिहाजा अब चिट्ठी के जरिए इन नेताओं ने राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी को दर्द लिखा है। इन नेताओं का साफ कहना है कि प्रदेश अध्यक्ष के पद पर किसी आयातित नेता को नियुक्त नहीं किया जाना चाहिए। बल्कि जनता से जुड़े हुए और अनुभवी और वफादार को राज्य की कमान सौंपनी चाहिए। गौरतलब है कि राज्य में कांग्रेस की करारी हार के बाद कांग्रेस आलाकमान ने राज्य के अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू से इस्तीफा ले लिया था।
सोनिया गांधी को चिट्ठी लिखने वाले नेताओं का कहना है कि राज्य में 2014 के बाद से पार्टी का जनाधार तेजी से गिरा है। हालांकि इन नेताओं ने सोनिया समेत राहुल गांधी और प्रियंका गांधी वाड्रा के नेतृत्व में विश्वास जताया है। इन नेताओं का कहना है कि प्रियंका गांधी सोनभद्र, हाथरस, लखीमपुर खीरी, आगरा और ललितपुर में पीड़ितों से मिली और वह राज्य में मुख्य विपक्षी नेता की भूमिका में दिखी थी। इससे राज्य में कार्यकर्ताओं में उनके प्रति विश्वास बढ़ा है। कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी को पत्र लिखने वालों में कानपुर के पूर्व विधायक भुधर नारायण मिश्रा, नेक चंद्र पांडे, हाफिज मोहम्मद उमर, सरदार कुलदीप सिंह, गणेश दीक्षित, संजीव दरियाबादी, कन्नौज के संतोष चतुर्वेदी, सीतापुर के हरीश बाजपेई, गाजीपुर के अमिताभ अनिल दुबे, बुलंदशहर के राजेंद्र सिंह सोलंकी के साथ ही अन्य नेता हैं। इन नेताओं का कहना है कि राज्य में हार के बाद पार्टी को सख्त फैसले लेने चाहिए।

मुंबई: अभिनेता सलमान ने शर्टलेस फोटो शेयर की

मुंबई: अभिनेता सलमान ने शर्टलेस फोटो शेयर की 

कविता गर्ग     
मुंबई। बॉलीवुड के दबंग स्टार अभिनेता सलमान खान ने सोशल मीडिया पर शर्टलेस फोटो शेयर की है।
सलमान खान ने सोशल मीडिया पर अपनी शर्टलेस फोटो शेयर की है। जिसमें उनका बीस्ट मोड नजर आ रहा है। सलमान की इस सुपर हॉट बॉडी को देखकर उनके फैंस को उनकी आने वाली फिल्म 'टाइगर 3' याद आने लगी है।
सलमान ने अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर अपनी एक एडिटेड फोटो शेयर की है। जिसमें वह जिम लुक में पत्तियों के बीच नजर आ रहे हैं। सलमान फोटो में फुल एक्शन मोड में नजर आ रहे हैं। पोस्ट के शेयर करते हुए सलमान ने लिखा, "ग्रीन लीव्स मैटर्स।" सलमान का यह लुक फैंस को खूब पसंद आ रहा है।
गौरतलब है कि यशराज फिल्म्स के बैनर तले बन रही फिल्म टाइगर 3 में सलमान खान और कैटरीना कैफ की मुख्य भूमिका है। टाइगर 3, 21 अप्रैल 2023 को रिलीज होगी।

मतदान को लेकर नए पीएम के लिए बैठक बुलाई

मतदान को लेकर नए पीएम के लिए बैठक बुलाई   

अखिलेश पांडेय      
इस्लामाबाद। पाकिस्तान की संसद के निचले सदन नेशनल असेंबली में सोमवार को नए प्रधानमंत्री के लिए मतदान को लेकर बैठक बुलाई गई हैं। अल जजीरा ने यह रिपोर्ट दी हैं।
रविवार तड़के तक चले घटनाक्रम में सत्तारूढ़ दल के सदस्यों और अध्यक्ष की अनुपस्थिति के बीच सदन में हुए मत विभाजन में इमरान सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव के पक्ष में 174 वोट पड़े। जिसके बाद उन्हें पद से हटा दिया गया।
असेंबली के कार्यवाहक अध्यक्ष अयाज सादिक ने कहा कि उम्मीदवार रविवार को स्थानीय समयानुसार सुबह 11 बजे तक नामांकन पत्र दाखिल कर सकते हैं।
 इमरान खान और गठबंधन सहयोगियों विश्वास मत खो दिया। उन्हें खस्ताहाल अर्थव्यवस्था और अपने वादों को पूरा करने में विफल रहने का दोषी ठहराया गया।

पेट्रोल-डीजल की कीमतें न बढ़ने से ईंधन के दाम स्थिर

पेट्रोल-डीजल की कीमतें न बढ़ने से ईंधन के दाम स्थिर 

अकांशु उपाध्याय         
नई दिल्ली। देश में तेल विपणन करने वाली कंपनियों द्वारा रविवार को भी पेट्रोल-डीजल की कीमतें नहीं बढ़ाने से लगातार चौथे दिन भी ईंधन के दाम स्थिर रहे। इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन की मूल्य अधिसूचना के अनुसार, दिल्ली में पेट्रोल 105.41 रूपये प्रति लीटर और डीजल 96.67 रूपये प्रति लीटर बिक रहा है।
वहीं, मुंबई में पेट्रोल की कीमत 120.51 रुपये प्रति लीटर और डीजल के दाम 104.77 रुपये प्रति लीटर पर स्थिर हैं।
इसी के साथ चेन्नई में पेट्रोल की कीमत 110.85 रुपये और डीजल की कीमत 100.94 रुपये पर बरकरार है।
कोलकाता में पेट्रोल और डीजल की कीमत क्रमश: 115.12 और 99.83 रुपये है।
देश में पेट्रोल-डीजल की कीमतें 137 दिनों की स्थिरता के बाद 22 मार्च 2022 से बढ़नी शुरू हुई हैं। कंपनियों ने पिछले 19 दिन में 14 बार पेट्रोल और डीजल के दामों में वृद्धि की है। तब से अब तक इनके दामों में करीब 10 रुपये प्रति लीटर की तेजी आयी हैं।
उल्लेखनीय है कि रविवार लगातार चौथा दिन है, जब कीमतों में कोई बदलाव नहीं हुआ है। इससे पहले एक अप्रैल को कीमतों में कोई बदलाव नहीं किया गया था।

मुस्लिम धर्मगुरुओं ने अलकायदा को चेतावनी दीं

मुस्लिम धर्मगुरुओं ने अलकायदा को चेतावनी दीं   

इकबाल अंसारी       
बेंगलुरु। कर्नाटक के भीतर उपजे हिजाब विवाद के दौरान जय श्री राम के नारों के जवाब में अल्लाह हू अकबर का नारा बुलंद करने वाली छात्रा मुस्कान जैनब खान के समर्थन में अलकायदा प्रमुख जवाहरी के वीडियो के सामने आने के बाद भारत के मुस्लिम संगठनों एवं मुस्लिम धर्मगुरुओं ने अलकायदा को दो टूक चेतावनी देते हुए कहा है कि उसे हमें नसीहत देने की कोई जरूरत नहीं है। क्योंकि यह भारत का आंतरिक मामला है।
दरअसल कर्नाटक में उपजे हिजाब विवाद को लेकर मांड्या की रहने वाली कॉलेज छात्रा मुस्कान जैनब खान हिजाब विवाद के दौरान एक प्रमुख चेहरा बनकर उभरी हैं। दुनिया के बड़े आतंकी संगठनों में शुमार अलकायदा के प्रमुख जवाहिरी द्वारा मुस्कान की तारीफ पर अखिल भारतीय इमाम संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष इमाम उमेर अहमद इलियासी ने कहा कि, हम अलकायदा की बातों से मतलब नहीं रखते हैं, यह हमारे अंदरूनी मामले हैं। हम इन्हें आपस में समेट लेंगे। यह बाहरी शक्तियां हैं जो मुल्क के अंदर नफरत फैलाना चाहती हैं। मुल्क में झगड़े कराना चाहती हैं, इसलिए हमें अलकायदा की नसीहतों की जरूरत नहीं हैं।
अयमान अल जवाहिरी आतंकी सरगना ओसामा बिन लादेन का करीबी माना जाता रहा है। 2011 में अमेरिकी हमले में ओसामा बिन लादेन के मारे जाने के बाद जवाहिरी ने अल कायदा की बागडोर संभाली थी। इससे पहले अलकायदा प्रमुख अयमान अल-जवाहिरी के बारे में साल 2020 में ये खबर फैली कि उनकी मौत हो चुकी है या फिर वो बीमार हो चुके हैं। वहीं बीते दिनों अलकायदा प्रमुख जवाहिरी ने मुस्कान की तारीफ में करीब नौ मिनट का वीडियो संदेश जारी किया, वीडियो पर कर्नाटक सीएम बसवराज बोम्मई ने भी जांच के आदेश दे दिए हैं।
हालंकि मुस्लिम सगठनों की अलकायदा की टिपण्णी से पहले ही मुस्कान के पिता मोहम्मद हुसैन खान ने ही वीडियो से किनारा कर लिया था, उन्होंने अपने एक बयान में कहा था कि, उनका अलकायदा से कोई लेना देना नहीं है। जवाहिरी कौन यह भी वह नहीं जानते। हमें उनकी तारीफ की जरूरत नहीं है। हम यहां खुश हैं।
देश का एक अन्य मुस्लिम संगठन, जमाअत इस्लामी हिन्द के उपाध्यक्ष प्रोफेसर मोहम्मद सलीम इंजीनियर ने अलकायदा पर कहा कि, हिजाब मामला एक संवेदनशील मामला है। कर्नाटक में जो भी हुआ उसमें मुस्कान की तारीफ की जा रही है। यदि इस तरह के संगठन ने हमारे मुल्क पर कुछ कहा है तो उसको बड़े ही संवेदनशीलता से लिया जाता है। तारीफ कोई भी कर सकता है, लेकिन यह हमारे मुल्क का मामला है और इसमें किसी भी विदेशी संगठन को दखलंदाजी देने की जरूरत नहीं है।
 उठाकर अपने राजनीतिक फायदे उठाना चाहते हैं, सिर्फ वही चाहते हैं कि यह मसला ज्यादा से ज्यादा उठाया जाए। हिजाब का मसला पहली बार नहीं उठा है, बच्चे शुरूआत से ही हिजाब पहनते चले आ रहे हैं।
एक अन्य मुस्लिम संगठन ऑल इंडिया मजलिस- ए- मुशावरत (एआईएमएमएम) के अध्यक्ष नवैद हामिद ने कहा कि, अलकायदा और अल जवाहरी का इस्लाम से कितना लेना देना है, वो इस बात से पता लगता है कि इन्होंने मिडल ईस्ट और अफगानिस्तान में मुसलमानों को मारा है। यह एक राजनीतिक स्टंट है और बहुत समय बाद उनकी तरफ से किसी तरह की कोई बयान आया है।
अभी यह भी नहीं पता कि जवाहरी जिंदा भी है या नहीं, क्योंकि कहा जाता है कि, उनको मार दिया गया है। यदि वह जिंदा है तो भी हम मुसलमान कहना चाहते हैं कि भारत के मुसलमान अपने मसलों को हल करने की क्षमता रखता है और हमें किसी दहशतगर्द की दखलंदाजी की जरूरत नहीं है और न ही हम पसंद करते हैं।
दरअसल कर्नाटक हिजाब मामले में पहले ही हाई कोर्ट अपना फैसला दे चुकी है जिसे सुप्रीम कोर्ट में भी चुनौती दी गई है। हाइकोर्ट की फुल बेंच ने अपने 129 पन्ने के फैसले में कुरान की आयतों और कई इस्लामी ग्रंथों का हवाला दिया और इन उद्धरणों के आधार पर अदालत ने कहा था कि हिजाब इस्लाम के लिए अनिवार्य नहीं है।

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण     

1. अंक-184, (वर्ष-05)
2. सोमवार, अप्रैल 11, 2022
3. शक-1984, चैत्र, शुक्ल-पक्ष, तिथि-दसमीं, विक्रमी सवंत-2078।            
4. सूर्योदय प्रातः 07:04, सूर्यास्त: 06:24।
5. न्‍यूनतम तापमान- 27 डी.सै., अधिकतम-42+ डी सै.। उत्तर भारत में बरसात की संभावना।
6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है।
7.स्वामी, मुद्रक, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम व शिवांशु, (विशेष संपादक) श्रीराम व सरस्वती (सहायक संपादक) के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी।
8. संपर्क व व्यवसायिक कार्यालय- चैंबर नं. 27, प्रथम तल, रामेश्वर पार्क, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102।
9.पंजीकृत कार्यालयः 263, सरस्वती विहार लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102
http://www.universalexpress.page/
www.universalexpress.in
email:universalexpress.editor@gmail.com
संपर्क सूत्र :- +919350302745 
           (सर्वाधिकार सुरक्षित)

'जिला स्वच्छ भारत मिशन' की बैठक संपन्न

'जिला स्वच्छ भारत मिशन' की बैठक संपन्न    सुशील केसरवानी         कौशाम्बी। मुख्य विकास अधिकारी शशिकान्त त्रिपाठी की अध्यक्षता में उद...