शुक्रवार, 21 मई 2021

तैनाती: 26-27 को चक्रवाती तूफान 'यास' की दस्तक

अकांशु उपाध्याय            

नई दिल्ली। देश के पूर्वी तटीय क्षेत्र में 26-27 मई के आसपास चक्रवाती तूफान यास दस्तक दे सकता है और इससे निपटने के लिए राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) ने पश्चिम बंगाल तथा ओडिशा में अपने दलों की तैनाती शुरू कर दी है। अधिकारियों ने शुक्रवार को यह जानकारी दी। 

उन्होंने कहा कि पश्चिमी तटीय क्षेत्र में तूफान ताउते से प्रभावित राज्यों में बचाव और पुनर्वास के काम के लिए भेजे गये दलों को वापस बुलाया जा रहा है। एनडीआरएफ के महानिदेशक एस एन प्रधान ने ट्वीट किया कि पश्चिम बंगाल और ओडिशा के तटीय जिलों में यास तूफान और इसके संभावित प्रभावों के मद्देनजर दलों को हवाई मार्ग से बुलाने का फैसला किया गया है।

सीएम योगी ने कोविड केयर सेंटर का किया निरीक्षण

आदर्श श्रीवास्तव                 

लखीमपुर खीरी। सीएम योगी शुक्रवार को कोरोना से निपटने को लेकर चल रहे अभियान की समीक्षा करने लखीमपुर खीरी पहुंचे। उन्होंने कोविड केयर सेंटर का निरीक्षण किया और अधिकारियों के साथ बैठक की। उन्होंने कहा कि जीवन और जीविका को बचाना हमारा दायित्व है। प्रत्येक व्यक्ति को मिलकर यह युद्ध लड़ना होगा। 

समीक्षा बैठक में मुख्यमंत्री बोले कि देश के सबसे बड़े प्रदेश के सामने बड़ी चुनौती थी। आशंका जताई जा रही थी कि 25 अप्रैल से 10 मई के बीच प्रतिदिन एक लाख पॉजिटिव केस आएंगे। 24 अप्रैल को सर्वाधिक 38 हजार 55 पॉजिटिव केस आये थे। जो अब घटकर 7713 केस हैं। पिछले 20 दिनों में शहरी और ग्रामीण क्षेत्र में दो लाख 4 हजार लोग कोरोना से मुक्त हुए हैं। अब तक एक करोड़ साठ लाख लोगों को वैक्सीन लगाई जा चुकी है। 18 साल और इससे ऊपर के आठ लाख से अधिक लोगों को भी वैक्सीन दी जा चुकी है।

गांवों के लिए एंबुलेंस देने के आदेश पर लगाईं रोक

अकांशु उपाध्याय               

नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश सरकार को सर्वोच्च न्यायालय से बड़ी राहत मिली है। सुप्रीम कोर्ट ने इलाहाबाद हाईकोर्ट के उस आदेश पर रोक लगा दी है। जिसमें एक महीने के भीतर यूपी के सभी गांवों के लिए 2-2 आईसीयू एंबुलेंस देने को कहा गया था। इस आदेश में सभी नर्सिंग होम में ऑक्सीजन बेड की सुविधा के लिए भी कहा था। आदेश देते हुए हाईकोर्ट ने राज्य की मेडिकल व्यवस्था को ‘रामभरोसे’ कहा था। 

राज्य सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में दलील दी कि 1 महीने में 97,000 गांवों के लिए 2-2 एंबुलेंस देना समेत दूसरे आदेश भले ही अच्छे मकसद से दिए गए हों, पर अव्यवहारिक हैं। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि हाईकोर्ट के आदेश को सलाह की तरह लेकर काम करने की कोशिश करें। सुप्रीम कोर्ट ने सभी हाईकोर्ट से कहा कि ऐसा आदेश न दें जिनका पालन असंभव हो।

सीएम स्टालिन ने राष्ट्रपति को लिखा पत्र, मांग की

मनोज सिंह ठाकुर             

चेन्नई। तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एम के स्टालिन ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को पत्र लिखकर पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी हत्याकांड के सभी सात दोषियों को रिहा करने की मांग की है। उन्होंने इस संबंध में सभी दोषियों की रिहाई को लेकर सितंबर 2018 के राज्य सरकार के प्रस्ताव को स्वीकार करने की भी अपील की है।

स्टालिन की ओर से कोविंद को लिखा गया पत्र द्रमुक संसदीय दल के नेता टी आर बालू ने दिल्ली में उन्हें सौंपा। पत्र में सभी सात दोषियों एस. नलिनी, मुरुगन, संथान, ए.जी. पेरारिवलन, जयकुमार, रॉबर्ट प्यास और पी. रविचंद्रन की सजा माफ करने और उनकी तत्काल रिहाई का आदेश देने का अनुरोध किया गया है।

दिल्ली में संक्रमण के 3009 नए मामलें सामने आएं

अकांशु उपाध्याय                    

नई दिल्ली। दिल्ली में 24 घंटे में शुक्रवार को कोविड-19 के 3009 नए मामले आए तथा 252 और लोगों की मौत हो गयी। वहीं संक्रमण दर घटकर 4.76 प्रतिशत हो गयी है। स्वास्थ्य विभाग द्वारा साझा किए गए आंकड़ों से यह जानकारी मिली है। नए स्वास्थ्य बुलेटिन के मुताबिक, मौत के नए मामलों से राष्ट्रीय राजधानी में मृतक संख्या 22,831 हो गयी है। दिल्ली में लगातार तीसरे दिन संक्रमण के 4,000 से कम मामले आए हैं।

बृहस्पतिवार को संक्रमण दर 5.5 प्रतिशत थी। चिकित्सा विशेषज्ञों का मानना है कि लॉकडाउन के कारण रोजाना के मामलों में कमी आ रही है। दिल्ली में बुधवार को कोविड-19 के 3,846 मामले आए थे और 235 लोगों की मौत हुई थी।


आसाराम की अंतरिम जमानत याचिका खारिज की

नरेश राघानी             

जोधपुर। राजस्थान उच्च न्यायालय ने स्वयंभू धर्मगुरु आसाराम की अंतरिम जमानत याचिका शुक्रवार को खारिज कर दी। याचिका में आसाराम ने हरिद्वार जाकर आयुर्वेदिक पद्धति से इलाज कराने के लिए जमानत देने का अनुरोध किया था। अदालत ने जोधपुर स्थित अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) की चिकित्सा रिपोर्ट पर गौर करने के बाद दुष्कर्म में मामले में कैद आसाराम को जमानत देने से इनकार कर दिया। आसाराम को कोविड-19 होने के बाद एम्स जोधुपर में भर्ती किया गया है। न्यायमूर्ति संदीप मेहता और न्यायमूर्ति देवेंद्र कछवाहा की पीठ ने चिकित्सा रिपोर्ट देखने के बाद जिला और जेल प्राधिकार को निर्देश दिया कि वह आसाराम को योग्य चिकित्सा संस्थान में उचित इलाज सुनिश्चित करे। अदालत ने कहा कि आसाराम को जेल में लौटने पर पौष्टिक आहार और सुरक्षित वातावरण मुहैया कराया जाए।

बागपत: समस्या के निस्तारण हेतु कार्य प्रारंभ किया

गोपीचंद              
बागपत। जिला बागपत की ग्राम पंचायत किशनपुर में जल भराव की समस्या लंबे समय से चल रही थी। जिस पर वार्ता करते हुये नरेश पाल प्रजापत ने बताया, कि जल भराव की समस्या रोशन प्रजापत से धीर सिंह कश्यप के मंकान तक नाला सफाई एंव तालाव सफाई नहीं होने के कारण जगह-जगह रास्तों पर गन्दा पानी भराव के कारण आमजन के लिये एक बड़ी समस्या का कारण बना हुआ था और इसी जल भराव के कारण पीडब्ल्यूडी द्वारा बनायी गयी सडक कई जगह से टूट चुकी है। नालों के पानी ओवर फ्लो होने के कारण कई प्रकार के मच्छर पैदा हो गये। जिससे गॉंव में गम्भीर बीमारी फैलने की आशंका हो रही थी।
गॉंव में चारो तरफ गन्दगी के अम्बार लगे होने वह पानी निकासी नहीं होने के कारण गॉंव में चारो तरफ पानी ही पानी नजर आरहा था अत: इस सम्बंध में मुख्यमंत्री पोटल पर भी शिकायत दर्ज कराई गई थी और जिलाधिकारी महोदय को वाट्सप और डाक रजिस्ट्री के माध्यम से भी अवगत कराया गया था। जिसमे ग्राम में सफाई अभियान व पानी की निकासी की व्यवस्ता व सभी नालो की साफ सफाई कराने के लिये आवेदन किया गया था। जिसपर जिला प्रशासन ने संज्ञान लेते हुये समस्या की जांच करा कर समस्या के निस्तारण हेतु आज कार्य प्रारम्भ करा दिया।

महिलाओं ने पेयजल की समस्या पर किया हंगामा


गोपीचंद                
बागपत। आज शुक्रवार को बड़ौत नगर के वार्ड 17 के पट्टी मेहर गली कहरान और गडरीयान मे महिलाओ ने पानी की समस्या को लेकर जमकर हंगामा किया और चेयरमैन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। महिलाओ से बातचीत के माध्यम से पता चला कि पिछले एक साल गली से पानी की गम्भीर समस्या चल रहीं है और प्रत्येक परिवार पानी की काफी कमी के कारण पीने के लिए भी पानी को तरस गए है। इस पर कुछ महिलाओ का ये भी कहना है कि जिस तरह पिछले एक साल से हम पानी की समस्या को झेल रहे हैं, तो आने वाले कुछ दिनों मे बिना पानी के और भी गम्भीर स्थिति बनती हुई नजर आ रहीं है। साथ ही सभी महिलाओं ने बताया कि कई बार नगर पालिका परिषद् बड़ौत के जलकल विभाग में इस मामले को लेकर शिकायत दर्ज करायी जा चुकी है, लेकिन कोई भी अधिकारी इस विषय पर ध्यान नहीं देता और सिर्फ आश्वासन देकर भेज देते है। लेकिन स्थिति का जायजा लेकर उसमे सुधार करने कोई नहीं आता, जो कॉलोनीवासियों के लिए काफी चिंता का विषय बना हुआ है। उनका कहना है जब हम अपने नगर के विकास कार्यो और समस्या का निस्तारण करने हेतु अपना प्रतिनिधि चुनते है तो वोट मांगने के लिए तो सारे प्रत्याशी झूठे वादे करके अपनी सरकार बना लेते है लेकिन बाद मे वह उन्हें नजर भी नहीं आते है, इस बात को लेकर जनता मे काफी आक्रोश है और साथ ही कहा है कि अगर जल्द ही पानी की समस्या का निस्तारण सम्बन्धित विभाग द्वारा नहीं किया जाता है, तो उन्हें मजबूरन जिलाधिकारी महोदय के कार्यालय पर जाकर पानी की समस्या के समाधान हेतु ज्ञापन देना पड़ेगा। इस मौके पर संतरा देवी, उर्मिला, ब्रिहमला, रहींशा, जैतून, कैलाश, राकेश, जयबीर, गुड्डू आदि कॉलोनी वाले प्रदर्शन करते नजर आए।

लॉकडाउन में शादी-विवाह की अनुमति प्रदान की

कौशाम्बी। उत्तर प्रदेश उद्योग व्यापार प्रतिनिधि मंडल के पास प्रदेश के समस्त जिलो से शिकायत प्राप्त हुयी है, कि प्रदेश सरकार ने लॉकडाउन में शादी-विवाह की अनुमति प्रदान की है। परन्तु शादी विवाह करने वाले परिवारो को सामान खरीदने के लिए बाजारो में दुकान खोलने की अनुमति नहीं दिया है। ऐसी हालत में प्रदेश के अंदर सामाज के सभी वर्गो को शादी के लिए कपडा,जेवर,वर वधू के लिए उपयोगी सामाग्री वा भोजन नास्ता आदी बनाने के लिए प्रयुक्त होने वाली सामग्री की खरीद मे बाजारो की सभी दुकाने बंद होने के कारण अत्याधिक कठिनाई का सामना करना पड़ रहा है। यदि इस तत्थ की अनदेखी करनी थी तो सरकार शादी विवाह की अनुमति नहीं देती तो अच्छा ही था।
दुकाने बंद होने के कारण दोनो परिवारो को वर वधू को देने के लिए कोई सामान नहीं मिल पा रहा है। इसी कारण बहुत सी शादिया नियति तिथि पर कैसिल करनी पड़ी या टूट गई। लोग शादी के लिए बैण्ड बाजे होटल गेस्ट हाऊस फूल माला लाइट हलवाई सुनार आदि को एण्डवांश में रकम दे चुके है।परन्तु शादी कैसिंल होने पर उनका एण्डवांश पैसा वापस नही मिल पा रहा है। बहुत से लडकी पक्ष के सामने काफी आर्थिक नुकसान का संकट है।जिसमे कई भविष्य मे पुनः व्यवस्था करने मे असक्षम है। ऐसी स्थिति मे आम जनता कि समस्या को देखते हुवे सरकार द्वारा बाजारो को पूर्णतः बंद करना अनुचित है।
उत्तर प्रदेश उद्योग व्यापार प्रतिनिधि मंडल के प्रान्तीय वरिष्ठ महामंत्री रमेश अग्रहरि ने उत्तर प्रदेश सरकार के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को एक ई मेल भेजकर मांग किया है कि कोविड कि दूसरी लहर मे लाकडाउन के समय सरकार ने वैवाहिक कार्यक्रम की अनुमति दी तो उपयोगी आवश्यक सामानो की खरीद ब्रिक्री हेतु बाजारो को खोलने की अनुमति प्रदान करे। आम जनता की समस्याओं वा जनपद के व्यापारियों की समस्याओं को ध्यान मे रखते हुए 7:00 से 11:00 वा सांय 4:00 से 7:00 बजे तक बाजारो को खोलने कि अनुमति जिलाधिकारी के माध्यम से प्रदान करे।
राजू सक्सेना 

पुलिस से इंसाफ के इंतजार में व्यक्ति ने तोड़ा दम

अतुल त्यागी              
हापुड़। पिलखुवा पुलिस से इंसाफ के इंतजार में व्यक्ति ने दम तोड़ दिया। एक हफ्ते से परिजन पिलखुवा कोतवाली के चक्कर काट रहे हैं। जहां एक तरफ हापुड़ एसपी नीरज कुमार जादौन जरूरतमंद लोगों और फरियादियों की तुरंत मदद के लिए जाने जाते हैं। वहीं एक व्यक्ति ने पिलखुवा में पुलिस से इंसाफ के इंतजार में दम तोड़ दिया। पिलखुवा के गांव खेड़ा में झगड़े में घायल हुआ था मृतक। एक हफ्ते से मृतक के परिजनों को थाने से पुलिस टकरा रही थी। पुलिस कार्यवाही करती तो शायद मासूम की जान बच जातीं।

संक्रमण के आंकड़ो से जिला प्रशासन की नींद उड़ी

अश्वनी उपाध्याय   
गाज़ियाबाद। जिले में आज नए संक्रमितों की संख्या अचानक से बढ़कर 1003 हो गई।  हाल ही में मुख्यमंत्री के मेरठ मण्डल में दौरे के बाद से गाज़ियाबाद और आसपास के क्षेत्र में आश्चर्यजनक रूप से संक्रमण की रफ्तार कम हुई थी मगर आज के आंकड़े जिला प्रशासन की नींद उड़ाने के लिए काफी हैं।  राज्य स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी रिपोर्ट के अनुसार गाज़ियाबाद जनपद में 24 घंटों की अवधि में 452 मरीजों को डिस्चार्ज किया गया और 3 संक्रमितों की मौत दर्ज की गई।  फिलहाल जिले में सक्रिय संक्रमितों की संख्या 3300 हो गई है।
पड़ोसी जिलों का हाल

गौतम बुद्ध नगर में 394 पॉज़िटिव रिपोर्ट्स मिली जबकि 461 मरीजों को डिस्चार्ज किया गया। यहाँ 6 मरीजों की मौत के बाद सक्रिय संक्रमितों की संख्या 4891 हो गई है।

मेरठ जिले में 427 नए मरीज मिले और 1317 मरीजों को डिस्चार्ज किया गया।  यहाँ 9 मरीजों की मौत के बाद सक्रिय संक्रमितों की संख्या 6569 हो गई है।

हापुड़ जिले में 142 नए संक्रमित मिले और 211 मरीजों को डिस्चार्ज किया गया।  हापुड़ में 2 मरीजों की मौत के बाद सक्रिय संक्रमितों की संख्या 1550 हो गई है।

आगरा जिले में 84 नए संक्रमित मिले और 166 मरीजों को डिस्चार्ज किया गया। यहाँ 9 मरीजों की मौत के बाद सक्रिय मरीजों की संख्या 1063 हो गई है।

प्रदेश का हाल

उत्तर प्रदेश में पिछले 24 घंटों में कोरोना वायरस के 7735 नए मामले सामने आए हैं। इस दौरान 17,668 मरीज ठीक हुए हैं और 172 मौतें हुई हैं। अब तक 15,34,176 मरीज ठीक हो चुके हैं। यहां मरने वालों की संख्या 18,760 हो गई है। यूपी में 1,06,276 सक्रिय मामले हैं।

5 ने दी ब्लैक फंगस को मात, 21 का चल रहा इलाज

अश्वनी उपाध्याय   
गाज़ियाबाद। जिले में ब्लैक फंगस (म्यूकर माइकोसिस) से पहली मौत दर्ज की गई।  हालांकि यहाँ मौत अभी सरकारी किताबों में दर्ज नहीं हुई है। नूरनगर सिहानी के रहने वाले 57 वर्षीय राजाराम को 24 अप्रैल को बुखार आया था। 2 मई को कोविड संक्रमण की पुष्टि होने के बाद उन्हें संजय नगर स्थित कोविड लेवेल 2 अस्पताल में भर्ती कराया गया है।राजाराम के बेटे पुष्पेंद्र ने आरोप लगाया कि इलाज में लापरवाही के चलते उनके पिता को लगातार सांस लेने में दिक्कत हो रही थी।  इसके बाद वे अपने पिता को इलाज के लिए वसुंधरा के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां उन्हें इलाज के दौरान स्टेरॉयड दिए गए। धीरे-धीरे राजा राम की आँखों की पुतलियाँ टेढ़ी होने लगीं।

इंजेक्शन के लिए लगाते रहे दफ्तरों के चक्कर

डॉक्टरों की सलाह पर पुष्पेंद्र अपने पिता को राज नगर के एक ईएनटी अस्पताल में ले गई।  यहाँ उन्हें इलाज के लिए कुछ एक ऐसा इंजेक्शन लाने के लिए कहा गया जो बाज़ार में उपलब्ध नहीं था। पुष्पेंद्र ने आरोप लगाया कि इंजेक्शन के लिए उनका पूरा परिवार प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग के चक्कर लगाता रहा मगर उन्हें कोई सहायता नहीं मिली। सही समय पर इंजेक्शन न मिलने के कारण गुरुवार को राज राम की मौत हो गई।

5 मरीजों ने दी ब्लैक फंगस को मात और 21 का चल रहा है इलाज

गाज़ियाबाद के विख्यात ईएनटी स्पेशियलिस्ट डॉ. बी. पी त्यागी ने बताया कि उनके अस्पताल में इलाज करा रहे पांच मरीज ऑपरेशन के बाद घर पहुंच गए हैं। फिलहाल ब्लैक फंगस से पीड़ित 16 मरीजों का इलाज चल रहा है। तीन मरीज नेहरूनगर स्थित एक प्राइवेट अस्पताल व एक मरीज कविनगर के एक अस्पताल में भर्ती है। डॉ. त्यागी का कहना है कि इस बीमारी में अगर समय से इलाज नहीं मिला तो 90 फीसदी मरीजों की मौत हो जाती है।महिलाओं की अपेक्षा में पुरुषों में अधिक परेशानी

डॉ. बीपी त्यागी ने बताया कि अब तक जितने मरीजों में म्यूकर माइकोसिस मिला है, सभी डायबिटिक हैं। संक्रमित मरीजों की उम्र भी 40 से 68 के बीच है। 21 मरीजों में सिर्फ तीन महिलाएं हैं। अब तक संक्रमित 99 फीसदी मरीजों में बाईं आंख और नाक संक्रमण की चपेट में आए हैं, जबकि एक महिला की दाईं आंख संक्रमित हुई है। एक सप्ताह में उपचार मिल जाए तो उसके बचने की उम्मीद 70 प्रतिशत होती है, लेकिन इलाज में विलंब हो जाए और संक्रमण दिमाग तक पहुंच जाए तो मौत हो जाती है।

इलाज पर आता है 20 लाख रुपए का खर्च

डॉ. त्यागी ने बताया कि संक्रमित मरीज को पांच एमजी प्रति किग्रा के अनुसार इंजेक्शन दिया जाता है। अर्थात, 50 किग्रा वाले मरीज को 50 एमजी की तीन खुराक एक दिन में दी जाती है। एक इंजेक्शन का एमआरपी छह हजार रुपये है। मरीज का एक दिन में सिर्फ तीस हजार रुपये का इंजेक्शन लगता है, जबकि अन्य दवाइयां और अस्पताल का खर्च जोड़कर लगभग एक लाख रुपये प्रतिदिन का होता है।

और क्या हैं इलाज के विकल्प

डॉ. बी पी त्यागी ने बताया कि नेफ्रोटॉक्सिन इंजेक्शन 1,750 रुपये का आता है। इस इंजेक्शन का सबसे अधिक साइड इफेक्ट किडनी पर होता है, इसलिए इसके प्रयोग से डाक्टर बचते हैं। एक और इंजेक्शन एनीडुला फंगिन 17 हजार रुपये का आता है। शुगर लेवेल हाई होने के कारण या अन्य कारणों से जिन मरीजों  आपरेशन नहीं किया जा सकता है, ऐसे मरीजों में इस इंजेक्शन के प्रयोग से इंफेक्शन रोका जा सकता है।

इलाज का खर्च कम करने के प्रयास जारी

डॉ. त्यागी ने बताया कि मरीजों का खर्च बचाने के लिए वे कुछ दवाइयों को मिलाकर अलग से प्रयोग कर इलाज कर रहे हैं। इससे मरीजों का एक दिन का इंजेक्शन का खर्च 2,500 रुपये में हो जाता है। उन्होंने बताया कि जो मरीज पैसे खर्च नहीं कर सकते हैं, उनकी मदद के लिए कुछ संस्थाओं की सहायता ली जा रही है।

सरकारी मदद लेनी हो तो लगाने होंगे मेरठ के चक्कर

अगर मरीज में ब्लैक फंगस की पुष्टि होती है तो उसे डाक्टर के पर्चे पर पहले गाज़ियाबाद के सीएमओ से संस्तुति कराने के बाद मेरठ जाकर अपर निदेशक स्वास्थ्य या मंडलायुक्त से इंजेक्शन लेने की अनुमति लेनी होगी। इसके बाद लाइपोसोमल इंजेक्शन 6,000 रुपये (ब्लैक में  16,000 रुपये) और इमल्सन 1,500 रुपये (ब्लैक में 3,000) में मिलेगा। एम्फोटेरेसीन-बी इंजेक्शन सिर्फ महानिदेशक चिकित्सा एवं स्वास्थ्य सेवाएं की अनुमति पर सरकारी अस्पताल एवं मेडिकल कॉलेज को मिलेगी।

सरकारी अस्पताल में नहीं है एक भी मरीज

सीएमओ डॉ. एन के गुप्ता का कहना है कि अभी तक सरकारी स्तर पर ब्लैक फंगस से पीड़ित एक भी मरीज नहीं आया है। अगर कोई मरीज आता है, तो उसे रामा मेडिकल कॉलेज या संतोष अस्पताल में भर्ती कराया जाएगा।  इलाज के लिए जरूरी इंजेक्शन की मांग शासन से की गई है। डॉ. गुप्ता को अभी तक ब्लैक फंगस के कारण किसी मरीज के मौत के बारे में जानकारी नहीं है।

2 अज्ञात बदमाशों ने गोली मारकर हत्या की, लोनी

अश्वनी उपाध्याय   
गाजियाबाद। लोनी के चिरोड़ी रोड पर स्थित जनता इंटर कॉलेज के पास एक मोटरसाइकिल सवार की मोटरसाइकिल सवार अज्ञात 2 बदमाशों ने गोली मारकर हत्या कर दी सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस जांच में जुटी। बता दे कि 5 महीने पूर्व सुरेंदर के भाई की घर में गेट पर ही गोलियों से भून कर हत्या कर दी थी। लोनी के चिरोड़ी रोड पर जनता इंटर कॉलेज के पास सिरौली से चिरोड़ी जाते वक्त 11 बजे के आसपास मोटरसाइकिल सवार 2 बदमाशों ने गोली मारकर सुरेंदर(52) पुत्र किशनलाल निवासी गांव सिरौली की हत्या कर दी। गत दिसंबर माह में सुरेंदर के छोटे भाई जैनेंद्र उर्फ जैनी की हत्या हो चुकी है। जैनेंद्र की हत्या का मुख्य आरोपी अभी फरार बताया जा रहा है पुरानी रंजिश को लेकर ही हत्या की संभावना जताई जा रही है। क्षेत्राधिकारी लोनी अतुल कुमार सोनकर ने बताया कि पीड़ित परिवार के द्वारा दी तहरीर पर मुकदमा पंजीकृत किया जा रहा है।
22 दिसंबर 2020 की देर शाम बाइक पर सवार तीन युवक जैनी के घर पहुंचे। उन्‍होंने जैनी को आवाज देकर गेट पर बुलाया और कुछ देर तक बातचीत की। इसी बीच युवकों ने अचानक से गोलियां बरसानी शुरू कर दीं। हमलावरों ने करीब छह राउंड गोलियां चलाईं। गोली लगते ही जैनी लहूलुहान हालत में गेट पर ही गिर गया और हमलावर मौके से फरार हो गए। आनन-फानन जैनी को नरेंद्र मोहन अस्पताल ले जाया गया, लेकिन अस्पताल पहुंचने से पहले ही जॉनी ने दम तोड़ दिया। लोनी थाना पुलिस ने हत्या में लिप्त आरोपी सागर भारती, उमेश फौजी और अमित कसाना को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। पुलिस द्वारा हुई पूछताछ में पैतृक संपत्ति के बंटवारे को लेकर हुई हत्या को कबूला था। पूछताछ में बताया था कि जैनी बंसल के भतीजे पवन ने और उसके अन्य साथियों ने मनोज और उमेश निवासी नगला दादरी के घर बैठकर षड्यंत्र बनाया था।

गाजियाबाद: 26 दिन बाद जिले की कमान संभाली

अश्वनी उपाध्याय   

गाजियाबाद। कोरोना वायरस महामारी ने हर ओर कहर बरपाया हुआ है। उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद के तमाम प्रशासनिक अधिकारियों और कर्मचारियों के बीच खुद जिले के मुखिया यानी जिलाधिकारी कोरोना के शिकार हो गए थे। अब करीब 26 दिन बाद कोरोना को मात देने के बाद जिलाधिकारी अजय शंकर पांडेय ने दोबारा जिले की कमान संभाल ली है। 

अजय शंकर पांडेय पिछले महीने 24 अप्रैल को कोरोना वायरस की चपेट में आ गए थे। जिसके बाद उन्हें बुखार हुआ और सांस में लेने की तकलीफ हो रही थी। डॉक्टरों की सलाह पर उन्हें कौशांबी के यशोदा हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था। हॉस्पिटल में अजय शंकर पांडे को आईसीयू रूम मुहैया कराया गया था लेकिन तबीयत थोड़ा ठीक होने पर जिलाधिकारी ने अपना आईसीयू बेड छोड़ दिया। जिलाधिकारी ने तत्काल आईसीयू बेड किसी और जरूरतमंद को देने के लिए कहा, स्वयं के लिए सिंगल रूम भी मना कर दिया और सेमी प्राइवेट रूम में एक अन्य कोविड पॉजिटिव मरीज के साथ कमरा साझा किया।
जिलाधिकारी अजय शंकर पांडे को इसी महीने की 6 मई 2021 को यशोदा सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल से कोविड नेगेटिव होने के साथ ही छुट्टी दे दी गई। ख़ास बात यह रही कि जिलाधिकारी पांडेय इस दौरान भी अपने फोन, वीडियो कॉलिंग एवं इलेक्ट्रॉनिक माध्यमों से बैठकें करते रहे. यूं तो जिलाधिकारी की गैरमौजूदगी में GDA के वीसी और आईएएस कृष्णा करुणेश चार्ज संभाल रहे थे लेकिन अस्पताल से भी अजय शंकर पांडे का काम जारी था।
आपको बता दें कि गाजियाबाद के जिलाधिकारी और मुख्य चिकित्सा अधिकारी के साथ ही एडीएम प्रशासन संतोष कुमार वैश्य, जिला पूर्ति अधिकारी डॉ. सीमा, अपर नगर मजिस्ट्रेट खालिद अंजुम भी कोरोना से संक्रमित पाए गए थे। जिसके बाद ये अधिकारी घर पर उपचार ले रहे थे। जिले के इन अधिकारियों के अलावा जिला महिला अस्पताल की सीएमएस डॉ. संगीता गोयल, डॉ. कृष्णा, डॉ. संगीता, डॉ. मुकेश, आरपी सिंह, डॉ. आरसी गुप्ता, डॉ. मदन लाल भी संक्रमित पाई गई थीं।

सीएचसी में बरसात का पानी भरने से सेवाएं ठप

रईस खान   
गाजियाबाद। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र लोनी में बनाए गए 50 बेड के कोविड अस्पताल में बरसात का पानी भरने से सेवाएं ठप हो गईं। पानी भरने से पहले ही मरीज अपने घर जा चुके हैं। अस्पताल में कोरोना जांच भी नहीं हो रही हैं। 
प्रशासन के आदेश के बाद लोनी सीएचसी में कोविड अस्पताल बनाया गया था। यहां पिछले पांच दिनों में मात्र चार कोरोना मरीज ही उपचार के लिए भर्ती हुए थे 3 दिन पूर्व एक रोगी की तबीयत बिगड़ने पर उसे संतोष अस्पताल रेफर किया गया। वहीं चिकित्सकों ने अन्य रोगियों को स्वास्थ्य लाभ होने पर छुट्टी देकर होम क्वॉरेंटाइन को भेज दिया था। 2 दिन पूर्व  अचानक हुई बरसात होने पर सीएचसी में भी पानी भर गया।
सीएचसी प्रभारी राजेश तेवतिया ने बताया कि अस्पताल में पानी भरने पर सीएमओ और लोनी एसडीएम को अवगत कराया है। अस्पताल में कोरोना जांच भी नहीं हो रही है। कोरोना के मरीज कुछ दिनों के लिए गाजियाबाद के अस्पताल में भर्ती हो सकते हैं। 
वहीं, अधिकारियों ने सीएचसी में पंप सेट लगवाकर पानी निकालने का काम शुरू कर दिया है। पानी भरने से सीएचसी में कोविड की जांच कराने आए लोग मायूस होकर वापस लौटे। उपजिलाधिकारी शुभांगी शुक्ला ने बताया कि सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में जलभराव की जानकारी मिलने पर नगर पालिका कर्मियों को पंपसेट लगाकर पानी निकालने के निर्देश दिए गए हैं उन्होंने बताया कि स्वास्थ्य केंद्र से गंदे पानी की निकासी के बाद दोबारा कोड अस्पताल का संचालन शुरू किया जाएगा।

अवैध वसूली करते दो एंबुलेंस चालक अरेस्ट किए

अश्वनी उपाध्याय   
गाजियाबाद। जिला प्रशासन द्वारा एंबुलेंस का किराया तय कर दिए जाने के बाद भी अवैध वसूली कर रहे दो एंबुलेंस चालक बृहस्पतिवार को जिलाधिकारी द्वारा बिछाए गए जाल में फंस गए। दोनों को गिरफ्तार कर दो एंबुलेंस सीज कर दी गई है। गाजियाबाद के कंट्रोल रूम में फोन कर लोग शिकायत कर रहे थे कि एंबुलेंस चालक मनमानी वसूली कर रहे हैं। तय किराया से दोगुना तक चार्ज कर रहे हैं। जो लोग तय किराया से ज्यादा शुल्क देने से मना कर देते हैं, उनके मरीज को अस्पताल या अस्पताल से घर ले जाने के लिए एंबुलेंस चालक मना कर देते हैं। 
इस पर जिलाधिकारी ने अपर नगर मजिस्ट्रेट खालिद अंजुम को मनमानी वसूली करने वाले एंबुलेंस चालकों के पास आम आदमी बनकर फोन करने और शिकायत सही पाए जाने पर उनको पुलिस की मदद से गिरफ्तार करने के लिए निर्देश दिए। जनपद गाजियाबाद के जिलाधिकारी के द्वारा बिछाए हुए जाल में इंटेलीजेंस इंस्पेक्टर आशुतोष कुमार, सिहानी गेट एसएचओ कृष्ण गोपाल शर्मा, यात्रीकर अधिकारी संदीप जायसवाल भी शामिल हुए। अपर नगर मजिस्ट्रेट खालिद अंजुम ने फोन कर यादव एंबुलेंस सर्विस से एंबुलेंस मंगवाई और इंटेलीजेंस इंस्पेक्टर आशुतोष कुमार ने सांई एंबुलेंस सर्विस से एंबुलेंस मंगवाई। दोनों से एंबुलेंस बुक करते हुए मनमानी रेट तय किए गए। दोनों एंबुलेंस लेकर चालक जब लोहिया नगर पहुंचे तो उनको गिरफ्तार कर गया। दोनो आरोपित मूलत: इटावा और वर्तमान में लोहिया नगर निवासी हरिओम यादव और सर्वेश कुमार हैं। आरोपितों के खिलाफ सिहानी गेट थाने में रिपोर्ट दर्ज करवाई गई है। 
पंजीकरण के बिना दौड़ रही थी एंबुलेंस।

दोनों एंबुलेंस चालकों की गिरफ्तारी के बाद पता चला कि यादव एंबुलेंस सर्विस का मालिक अशोक कुमार यादव और सांई एंबुलेंस सर्विस का मालिक हरिओम यादव भाई-भाई हैं। दोनों के पास 11 एंबुलेंस हैं, जिनका वे संचालन कर रहे हैं। लेकिन पकड़ी गई दोनों एंबुलेंस का पंजीकरण एंबुलेंस के रूप में नहीं करवाया गया हैं। आरोपितों के कार्यालय पर भी पुलिस ने दबिश दी लेकिन वहां पर अन्य एंबुलेंस और अशोक यादव नहीं मिला। अन्य नौ एंबुलेंस और अशोक यादव की तलाश की जा रही है। 


पुण्यतिथि पर राजीव चौक का लोकार्पण किया

इकबाल अंसारी              
रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने आज यहां अपने निवास कार्यालय में आयोजित कार्यक्रम में राजधानी रायपुर के राजीव गांधी चौक के सौंदर्यीकरण कार्य का वर्चुअल लोकार्पण किया। रायपुर स्मार्ट सिटी लिमिटेड द्वारा नगर निगम के साथ मिलकर पूर्व प्रधानमंत्री भारत रत्न स्वर्गीय श्री राजीव गांधी की आदमकद प्रतिमा को नया कलेवर देते हुए इस स्थल को आकर्षक स्वरूप प्रदान किया है। कोरोना काल की विषम परिस्थितियों में रायपुर स्मार्ट सिटी लिमिटेड व नगर पालिक निगम रायपुर ने मिलकर एक माह के भीतर उक्त स्थल को आकर्षक एवं भव्य स्वरूप प्रदान किया है। कार्य का अनुमानित व्यय लगभग 50 लाख रूपये है।

रायपुर स्मार्ट सिटी लिमिटेड द्वारा शहर सौंदर्यीकरण योजना के तहत स्वर्गीय राजीव गांधी की प्रतिमा का रंग रोगन विशेष डीको पेंट से किया गया है। उनके व्यक्तित्व की आभा के अनुरूप थीमेटिक आर.जी.बी. आधारित प्रकाश व्यवस्था कर इस स्थल को तिरंगे के सदृश्य आलोकित किया गया है। प्रतिमा स्थल पर लैंड स्केपिंग, ग्रेनाईट कार्य, फोकस लाईटिंग व ल्यूमिनस लाईटिंग से आकर्षक स्वरूप दिया गया है। चैक के आस-पास के क्षेत्र में स्वर्गीय राजीव गांधी की सोच व स्वप्नों के अनुरूप थीम आधारित वाॅल पेंटिंग कर महिला स्वावलंबन, शिक्षा, सूचना क्रांति जैसे संकल्पों में उनके योगदान को अविस्मरणीय बनाया गया है।

चिपको आंदोलन की प्रेरणा बने, बहुगुणा का निधन

अकांशु उपाध्याय                 

नई दिल्ली। जाने माने पर्यावरणविद और चिपको आंदोलन से पहचान बनाने वाले सुंदरलाल बहुगुणा का शुक्रवार 21 मई को निधन हो गया है। उनकी कोरोना रिपोर्ट पिछले दिनों पॉजिटिव आई थी। हालांकि, गुरुवार शाम तक बहुगुणा की हालत स्थिर थी। उनका ऑक्सीजन सेचुरेशन 86% पर था। डायबिटीज के साथ वह कोविड निमोनिया से पीड़ित थे। 94 वर्षीय बहुगुणा को कोरोना होने पर गत आठ मई को एम्स ऋषिकेश में भर्ती कराया गया था। गुरुवार को एम्स के जनसंपर्क अधिकारी हरीश थपलियाल ने बताया, उनका उपचार कर रही चिकित्सकों की टीम ने इलेक्ट्रोलाइट्स व लीवर फंक्शन टेस्ट समेत ब्लड शुगर की जांच और निगरानी की सलाह दी है। उनके पुत्र राजीव नयन बहुगुणा, बहनोई डा.बीसी पाठक ने एम्स में भर्ती करवाया था।बता दें कि देहरादून स्थित शास्त्रीनगर स्थित अपने दामाद डॉ. बीसी पाठक के घर पर रह रहे सुंदरलाल बहुगुणा ने कुछ दिन पहले बुखार आया था। तो घर पर ही डॉक्टरों की निगरानी में उनका इलाज शुरु हो गया था। लेकिन बुखार नहीं उतरने पर तीसरे दिन उन्हें एम्स ले जाने की सलाह दी गई। राजीव ने बताया कि अस्पताल में उनका आरटीपीसीआर टेस्ट व अन्य जांचे की गई थी।इधर उनके पुत्र राजीव नयन ने सोशल मीडिया पर पिता को एडमिट करने की पोस्ट डाली तो देखते ही देखते उनकी यह सूचना वायरल होने लगी थी। सोशल मीडिया पर सैकड़ों की संख्या में उनके प्रशंसकों ने पर्यावरणविद सुंदरलाल बहुगुणा की सलामती की कामना भी की थी।

हिमालय के रक्षक सुंदरलाल बहुगुणा की सबसे बड़ी उपलब्धि चिपको आंदोलन थी। वह गांधी के पक्के अनुयायी थे और जीवन का एकमात्र लक्ष्य पर्यावरण की सुरक्षा था। उनका जन्म 9 जनवरी, 1927 को उत्तराखंड के टिहरी में हुआ था। सुंदरलाल ने 13 वर्ष की उम्र में राजनीतिक करियर शुरू किया था। 1956 में शादी होने के बाद राजनीतिक जीवन से उन्होंने संन्यास ले लिया।

उसके बाद उन्होंने गांव में रहने का फैसला किया और पहाड़ियों में एक आश्रम खोला। बाद में उन्होंने टिहरी के आसपास के इलाके में शराब के खिलाफ मोर्चा खोला। 1960 के दशक में उन्होंने अपना ध्यान वन और पेड़ की सुरक्षा पर केंद्रित किया। पर्यावरण सुरक्षा के लिए 1970 में शुरू हुआ आंदोलन पूरे भारत में फैलने लगा। चिपको आंदोलन उसी का एक हिस्सा था। गढ़वाल हिमालय में पेड़ों के काटने को लेकर शांतिपूर्ण आंदोलन बढ़ रहे थे। सुंदरलाल बहुगुणा ने गौरा देवी और कई अन्य लोगों के साथ मिलकर जंगल बचाने के लिए चिपको आंदोलन की शुरूआत की थी। 26 मार्च, 1974 को चमोली जिले की ग्रामीण महिलाएं उस समय पेड़ से चिपककर खड़ी हो गईं जब ठेकेदार के आदमी पेड़ काटने के लिए आए। यह विरोध प्रदर्शन तुरंत पूरे देश में फैल गया।

1980 की शुरुआत में बहुगुणा ने हिमालय की 5,000 किलोमीटर की यात्रा की। उन्होंने यात्रा के दौरान गांवों का दौरा किया और लोगों के बीच पर्यावरण सुरक्षा का संदेश फैलाया। उन्होंने तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी से भेंट की और इंदिरा गांधी से 15 सालों तक के लिए पेड़ों के काटने पर रोक लगाने का आग्रह किया। इसके बाद पेड़ों के काटने पर 15 साल के लिए रोक लगा दी गई। सुंदरलाल बहुगुणा ने टिहरी बांध निर्माण का भी बढ़-चढ़ कर विरोध किया और 84 दिन लंबा अनशन भी रखा था। एक बार उन्होंने विरोध स्वरूप अपना सिर भी मुंडवा लिया था। टिहरी बांध के निर्माण के आखिरी चरण तक उनका विरोध जारी रहा। उनका अपना घर भी टिहरी बांध के जलाशय में डूब गया। टिहरी राजशाही का भी उन्होंने कड़ा विरोध किया जिसके लिए उन्हें जेल भी जाना पड़ा। वह हिमालय में होटलों के बनने और लग्जरी टूरिज्म के भी मुखर विरोधी थे। महात्मा गांधी के अनुयायी रहे बहुगुणा ने हिमालय और पर्यावरण संरक्षण को लेकर जागरूकता फैलाने के लिए कई बार पदयात्राएं कीं।

ब्लैक फंगस के मामलों की संख्या-5,500 तक पहुंचीं

अकांशु उपाध्याय       

नई दिल्ली। देश में कोरोना मरीजों की संख्या में कमी आ रही है। हालांकि, कुछ मरीज जो कोरोना पर काबू पा चुके हैं। उनमें म्यूकोर्मिकोसिस पाया गया है। ब्लैक फंगस के मामलों की संख्या 5,500 तक पहुंच गई है। यह बीमारी अब तक 300 से ज्यादा लोगों की जान ले चुकी है। 

इससे यह भी पता चलता है कि ब्लैक फंगस अब सीधे दिमाग पर हमला कर रहा है। गुजरात के सूरत में यह अपनी तरह का पहला मामला है। इससे स्वास्थ्य व्यवस्था में चिंता बढ़ गई है। सूरत में एक 23 वर्षीय व्यक्ति कोरोना से संक्रमित हुआ था। युवक ने समय पर इलाज कराकर कोरोना पर काबू पा लिया।

लेकिन फिर उन्हें ब्लैक फंगस म्यूकोर्मिकोसिस हो गया। अब तक ब्लैक फंगस फेफड़ों और आंखों को खतरे में डाल रहा था। लेकिन अब ब्लैक फंगस सीधे दिमाग तक पहुंच गया है। इलाज करने वाले डॉक्टर ने कहा कि यह पहली बार था जब उन्होंने इस प्रकार फंगस को देखा। डॉक्टरों ने मरीजों से ज्यादा सतर्क रहने की अपील की है। क्योंकि ब्लैक फंगस सीधे दिमाग में पहुंच गया है। मरीजों का एमआरआई स्कैन होना चाहिए। ऐसा इसलिए क्योंकि दिमाग में ब्लैक फंगस के पहुंचने की जानकारी व्यक्ति को चक्कर आने या बेहोश होने के बाद ही समझ आती है। डॉक्टरों ने कहा कि ब्लैक फंगस सूरत के एक युवक के दिमाग में खून के जरिए पहुंचा होगा। विशेष रूप से इंडियन मेडिकल काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च के दिशानिर्देशों में भी चक्कर आना या सिर में सूजन का उल्लेख नहीं है।

वैज्ञानिकों ने उगाया दुनिया का सबसे महंगा मशरूम

श्रीराम मौर्य          

गांधीनगर। गुजरात के वैज्ञानिकों ने दुनिया का सबसे महंगा मशरूम उगा लिया है। कोर्डीकेप्स मिलिटर्स के इस मशरूम में एंटी ऑक्सीडेंट, एंटी डायबिटिक, सूजन रोधी, कैंसर रोधी, मलेरिया रोधी, थकान रोधी, एचआईवी रोधी और एंटी वायरल गुण हैं। सेहत के लिए बेहद गुणकारी यह मशरूम शरीर में ट्यूमर के आकार को कम करने में मदद भी करता है। इस मशरूम की 1 किलो मात्रा की कीमत करीब 1.50 लाख रुपए है। कच्छ के गुजरात इंस्टीट्यूट ऑफ डिजर्ट इकोलोजी के वैज्ञानिकों ने कोर्डीकेप्स मिलिटर्स को 90 दिनों के अंदर लैब के नियंत्रित वातारण में उगाया। उन्‍होंने 35 जार में इस मशरूम को उगाया है। पता चला है कि मशरूम की इस प्रजाति का इस्‍तेमाल चीन और तिब्बत की प्राकृतिक दवाइयों में लंबे समय से होता रहा है। एक रिपोर्ट के मुताबिक संस्थान के डायरेक्टर वी.विजय कुमार ने बताया, ‘मशरूम की कोर्डीकेप्स मिलिटर्स प्रजाति को हिमालयीन सोना कहा जाता है। इसका सेवन करने से सेहत को कई लाभ होते हैं। साथ ही यह कई बीमारियों को रोकने में बहुत मददगार है।’ यह मशरूम शरीर में ट्यूमर को होने से रोकता है और यदि ट्यूमर हो जाए तो उसके आकार को कम करने में मदद करता है। शुरुआती अध्ययन में पता चला है कि इस मशरूम का अर्क महत्वपूर्ण नतीजे दे सकता है। संस्थान के वरिष्ठ वैज्ञानिक कार्तिकेयन ने बताते हैं, ‘लोगों पर मेडिकल ट्रायल करने के लिए नियामक मंजूरी मांगी गई है। हम इस मशरूम का अतिरिक्त प्रभाव प्रोस्टेट कैंसर पर भी खोज रहे हैं। हालांकि, कोविड-19 महामारी के चलते इसमें देरी हो गई है।’ वैज्ञानिकों की योजना है कि वे भारतीय परिस्थिति में इस प्रजाति के कैंसर रोधी और एंटी वायरल गुणों की जांच करें। ब्रेस्ट कैंसर के इलाज में इसे उपयोगी पाने के बाद संस्थान ने अब कारोबारियों को इसका प्रशिक्षण देने का फैसला किया है। ताकि इस मशरूम की खेती की जा सके। वैसे तो लैब में इस मशरूम की खेती के एक हफ्ते के प्रशिक्षण का शुल्‍क एक लाख रुपये है। लेकिन संस्थान सामान्य शुल्क पर प्रशिक्षण देगा। बता दें कि इस रिसर्च टीम में निरमा यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर जिगना शाह और गाइड वैज्ञानिक जी जयंती भी शामिल थे।

भारत को 8 करोड़ वैक्सीन देगा, पहले भी मदद की

अकांशु उपाध्याय  

नई दिल्ली। भारत में जानलेवा कोरोना वायरस की दूसरी लहर के बीच अमेरिका की तरफ से भारत को कोरोना टीके की आठ करोड़ डोज देने की खबर है। हालांकि विदेश मंत्रालय ने कहा है कि सरकार अमेरिका से संपर्क में है, लेकिन अभी तक भारत को मिलने वाली डोज़ की जानकारी नहीं है। भारत को आठ में से छह करोड़ वैक्सीन देने की मांग उठ चुकी है।

अन्य देशों से टीके की खरीद के बारे में विदेश मंत्रालय ने क्या कहा?
विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची से अमेरिका समेत अन्य देशों से टीके की खरीद के बारे में सवाल पूछा गया था। उन्होंने कहा, ''हमने उन खबरों को देखा है जिसमें अमेरिकी सरकार ने दूसरे देशों को कुछ मात्रा में टीके उपलब्ध कराने का आश्वासन दिया है लेकिन इस बारे में हमारे पास अभी और जानकारी नहीं है।''
हालांकि उन्होंने कहा कि भारत अमेरिकी उद्यमों के साथ टीकों की खरीद और बाद में देश में उसके उत्पादन की संभावना के बारे में बातचीत कर रहा है। उन्होंने कहा कि एक बार टीके खरीद या उत्पादन के माध्यम से उपलब्ध हो जाते हैं। तब इससे देश में टीके की उपलब्धता की स्थिति मतबूत होगी। उन्होंने कहा, ''विदेशों से जो भी टीके खरीदे जायेंगे, वे हमारे नियामक दिशानिर्देशों के तहत होने की जरूरत है। जहां तक हमारी जानकारी है कि अमेरिका ने भी संकेत दिया है कि उसकी ओर से दूसरे देशों को भेजे जाने वाले टीके उत्पाद गुणवत्ता संबंधी संघीय खाद्य और दवा प्रशासन की मंजूरी के अनुरूप होगी।''
भारत को 40 देशों से सहयोग की पेशकश की गई- सरकार
विदेश सचिव ने कहा कि कोरोना संक्रमण के कारण उत्पन्न अभूतपूर्व स्थिति को देखते हुए अमेरिका, रूस, यूरोप, आस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड, यूएई, खाड़ी देशों, पड़ोसी देशों सहित 40 देशों से सहयोग की पेशकश की गई है। उन्होंने कहा था कि भारत महामारी को लेकर इस बात पर जोर देता रहा है कि इससे निपटने और इसे रोकने के लिए सामूहिक पहल की जरूरत है।
उल्लेखनीय है कि विदेश सचिव श्रृंगला ने कहा था कि जब महामारी शुरू हुई थी। तब भारत ने दुनिया के देशों को हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वीन और पैरासिटामोल सहित अन्य आवश्यक दवाओं की आपूर्ति की थी और यहां तक कि रेमडेसिविर दवा भी दी थी और अब दुनिया के देश भारत को सहयोग देने के लिए आगे आ रहे हैं।

वायरस ने हमारे अपनों को छीना, श्रद्धांजलि अर्पित

अकांशु उपाध्याय   
नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए वाराणसी के डॉक्टरों, पैरामेडिकल स्टाफ और अन्य फ्रंटलाइन स्वास्थ्यकर्मियों से बात की। इस दौरान उन्होंने कहा कि मैं काशी का एक सेवक होने के नाते हर एक काशीवासी का हृदय से धन्यवाद देता हूं। विशेष रूप से हमारे डॉक्टर्स, नर्सेज, वार्ड बॉयज और एम्बुलेंस ड्राइवर्स ने जो काम किया है, वो वाकई सराहनीय है।
संबोधन के दौरान भावुक होते हुए पीएम मोदी ने कहा कि ''इस वायरस ने हमारे कई अपनों को हमसे छीना है। मैं उन सभी लोगों को अपनी श्रद्धांजलि देता हूं, उनके परिजनों के प्रति सांत्वना व्यक्त करता हूं।' 
उन्होंने कहा कि ''कोरोना की दूसरी लहर में हमें कई मोर्चों पर एक साथ लड़ना पड़ रहा है। इस बार संक्रमण दर भी पहले से कई गुना ज्यादा है। मरीजों को ज्यादा दिनों तक अस्पताल में रहना पड़ रहा है। इससे हमारे स्वास्थ्य सिस्टम पर दबाव पड़ा है।' प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि कोरोना की दूसरी लहर में हमें कई मोर्चों पर एक साथ लड़ना पड़ रहा है। इस बार संक्रमण दर भी पहले से कई गुना ज्यादा है, मरीजों को ज्यादा दिनों तक अस्पताल में रहना पड़ रहा है। इससे हमारे स्वास्थ्य सिस्टम पर दबाव पड़ा है।
पीएम मोदी ने वाराणसी के डॉक्टरों से बात करते हुए कहा कि हमने वाराणसी में कोविड को कंट्रोल करने में सफलता पाई है, लेकिन अभी फोकस वाराणसी और पूर्वांचल के गांवों को बचाने पर होना चाहिए। पीएम मोदी ने इस दौरान नया मंत्र दिया कि अब हमें जहां बीमार, वहीं उपचार के मंत्र को फॉलो करना है। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि आपके तप से, और हम सबके साझा प्रयासों से महामारी के इस हमले को आपने काफी हद तक संभाला है। लेकिन अभी संतोष का समय नहीं है, हमें अभी एक लंबी लड़ाई लड़नी है। अभी हमें बनारस और पूर्वांचल के ग्रामीण इलाकों पर भी बहुत ध्यान देना है। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि अब हमारा नया मंत्र है ‘जहां बीमार वहीं उपचार’। इस सिद्धांत पर माइक्रो-कंटेनमेंट जोन बनाकर जिस तरह आप शहर एवं गावों में घर घर दवाएं बांट रहे हैं, ये बहुत अच्छी पहल है। इस अभियान को ग्रामीण इलाकों में जितना हो सके, उतना व्यापक करना है।

ओली के 7 मंत्रियों को बर्खास्त करने का आदेश

हरिओम उपाध्याय   
काठमांडू। नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली को एक ही दिन में दो बड़ें झटके लगे हैं। सुप्रीम कोर्ट की ओर से ओली सरकार के 7 मंत्रियों को बर्खास्त करने का आदेश देने के कुछ ही घंटे के बाद ओली को दूसरा बड़ा झटका लगा है। ओली सरकार में गृह मंत्री रहे राम बहादुर थापा को राष्ट्रीय सभा के चुनाव में पराजय मिली है। दल बदलने के कारण थापा की संसद सदस्यता चली गई थी जिसके बाद रिक्त स्थान पर आज गुरुवार को दोबारा मतदान हुआ था। संसद के उच्च सदन राष्ट्रीय सभा के लिए हुए मतदान में गृह मंत्री थापा को ओली की पार्टी के बागी उम्मीद्वार ने पराजित कर दिया है। नेपाल के उच्च सदन में प्रदेश के विधायक और पालिका के मेयर और उपमेयर मतदाता होते हैं। सबसे अधिक मत सत्तारूढ़ पार्टी के पक्ष में होने के बावजूद गृह मंत्री को उनकी ही पार्टी के बागी उम्मीदवार खिमलाल देवकोटा ने पराजित कर दिया है।
'ईश्वर' शब्द नहीं बोलने पर हुआ था विवाद
इससे पहले पिछले हफ्ते प्रधानमंत्री केपी ओली विवादों में आ गए थे। शुक्रवार को केपी शर्मा ओली ने बतौर नेपाल के प्रधानमंत्री तीसरी बार शपथ ली थी। लेकिन इस दौरान उनके खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में चार-चार याचिकाएं दायर कर दी गईं। केपी ओली ने शुक्रवार को हुए शपथ समारोह में शपथ लेने के दौरान 'ईश्वर' शब्द का इस्तेमाल नहीं किया। राष्ट्रपति विद्या देवी भंडारी ने जब ईश्वर, देश और लोगों का जिक्र किया तो उनकी बातों को दोहराते हुए पीएम ओली ने 'ईश्वर' शब्द का इस्तेमाल नहीं किया।
राष्ट्रपति की तरफ से दो बार 'ईश्वर' शब्द का इस्तेमाल हुआ लेकिन पीएम ओली ने एक बार भी उसको नहीं बोला। लोगों की नजर में यह राष्ट्रपति और उनके पद का अपमान था। इसी वजह से कई लोगों ने उनके इस शपथ को ही अवैध करार दे दिया और मांग करने लगे कि उन्हें फिर से शपथ दिलवाई जाए। हालांकि विवाद पर सुप्रीम कोर्ट की ओर से केपी ओली को खासी राहत मिली। कोर्ट ने साफ कर दिया कि अभी के लिए वो इस मामले में कोई भी अंतरिम आदेश जारी नहीं करने जा रहे हैं।

साल में 'कोवाक्सिन' की 20 करोड़ खुराक बनायेगें

अकांशु उपाध्याय  
नई दिल्ली।कोरोना वैक्सीन कंपनी भारत बायोटेक ने गुजरात के अंकलेश्वर में चिरोन बेहरिंग वैक्सीन (भारत बायोटेक की पूर्ण स्वामित्व सहायक कंपनी) में कोवाक्सिन के लिए अतिरिक्त विनिर्माण क्षमताओं को तुरंत बढ़ाने की घोषणा की है। भारत बायोटेक की ओर से जारी बयान में यह बताया गया है कि कंपनी अपने गुजरात प्लांट के साथ 1 साल के अंदर 'कोवाक्सिन' की 20 करोड़ खुराक बनाने जा रही है और इसके लिए अलग-अलग जगहों पर बहुत तेजी से काम हो रहा है। भारत बायोटेक ने कहा कि टीका के क्षेत्र में क्रांति आने वाली है और इसके लिए अतिरिक्त लैब्स की भी व्यवस्था की जा रही है।भारत बायोटेक ने गुरुवार को कहा कि देश में टीकों की कमी को पूरा करने के लिए उसने गुड मैन्युफैक्चरिंग प्रैक्टिस(GMP) नियमों के तहत हर साल कोवैक्सीन की 20 करोड़ डोज उत्पादन करने की योजना बनाई है। इस योजना के तहत अंकलेश्वर में कोवाक्सीन का उत्पादन 2021 की चौथी तिमाही से शुरू होगा।
भारत बायोटेक को एक और सफलता
बता दें कि बीते मंगलवार को नीति आयोग के सदस्य डॉ. वीके पॉल ने कहा था कि भारत बायोटेक अब 2-18 वर्ष की आयु वर्ग के लिए टीके का परीक्षण करेगी। कंपनी को इसके लिए ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) से चरण दो और तीन के परीक्षण की मंजूरी मिल गई है। वीके पॉल ने कहा कि अगले 10-12 दिनों में इसके क्लीनिकल ट्रायल शुरू हो जाएंगे।
कंपनी ने मांगी थी अनुमति
बता दें कि इससे पहले केंद्रीय औषधि मानक नियंत्रण संगठन (सीडीएससीओ) की कोविड-19 विषय विशेषज्ञ समिति ने 11 मई को भारत बायोटेक द्वारा किए गए उस आवेदन पर विचार-विमर्श किया, जिसमें उसके कोवाक्सीन टीके की दो साल से 18 साल के बच्चों में सुरक्षा और रोग-प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने समेत अन्य चीजों का आकलन करने के लिए परीक्षण के दूसरे/तीसरे चरण की अनुमति देने का अनुरोध किया गया था। वहीं अब ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) से भी अनुमति मिल गई जिससे ट्रायल का रास्ता साफ हो गया।

लालू की दूसरी बेटी रोहिणी राजनीति में सक्रिय हुई

अविनाश श्रीवास्तव  

पटना। राष्ट्रीय जनता दल के अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव की बेटी मीसा भारती के बाद उनकी एक और पुत्री रोहिणी आचार्य बिहार की राजनीति में काफी सक्रियता दिखा रही हैं। हाल के दिनों में उन्‍होंने ट्विटर पर अपनी सक्रियता काफी बढ़ा दी है। ऐसे तो उनका यह अकाउंट वैसे तो नवंबर 2017 से है। लेकिन इस पर राजनीतिक सक्रियता पिछले कुछ महीनों से अधिक है। पहले पिता लालू प्रसाद की रिहाई के लिए ट्विटर पर रोजा रखने का ऐलान, फिर एक के बाद एक बिहार के पूर्व डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी पर ताबड़तोड़ हमले। स्पष्ट है कि रोहिणी के इस ट्वटिर हैंडल से ज्‍यादातर टिप्‍पणियां पूरी तरह राजनीतिक होती हैं। 'सुशील मोदी को थूर देंगे', हाल में ही रोहिणी का ट्विटर पर दिए गए इस बयान ने काफी सुर्खियां बटोरीं।

रोहिणी आचार्य का यह ट्विटर अकाउंट फिलहाल अनवेरिफाइड है। इस अकाउंट पर रोहिणी की जो प्रोफाइल तस्‍वीर लगी है, उसमें खुद के अलावा उन्‍होंने अपने पिता लालू यादव और छोटे भाई तेजस्‍वी यादव की तस्‍वीर लगा रखी है। उनकी प्रोफाइल तस्‍वीर के साथ जो बैज लगा है, उसमें 'युवा संकल्‍प, तेजस्‍वी विकल्‍प' लिखा हुआ है। यानी यह साफ है कि तेजस्वी यादव को आगे रखकर ही उनकी राजनीति आगे बढ़ने वाली है. सवाल यह है कि आखिर तेजस्वी के साथ उनकी पॉलिटिक्स किस रास्ते आगे बढ़ सकती है।
लालू परिवार के छठे सदस्य की राजनीति में होगी एंट्री!
बता दें कि लालू फैमिली में कई सदस्य पहले से राजनीति में बेहद सक्रिय हैं। स्वयं लालू प्रसाद यादव एवं पूर्व सीएम राबड़ी देवी के अलावा बड़ी बेटी मीसा भारती, बड़ा बेटा तेज प्रताप यादव और छोटा बेटा तेजस्वी यादव बिहार की सियासत को साध रहे हैं। अब लालू परिवार की छठी सदस्य भी राजनीति में आने को आतुर हैं। हालांकि, लालू परिवार में भी गाहे-बगाहे सियासी खटपट की बातें सामने आती रहती हैं। तेजप्रताप-तेजस्वी के बीच खींचतान के साथ ही मीसा भारती की महत्वाकांक्षा भी कई बार जाहिर हो चुकी है। अब रोहिणी कि ख्वाहिश के साथ राजनीति में एंट्री कर रही हैं, यह देखना दिलचस्प होगा। 
पहली बार राजनीतिक सुर्खियों में आईं रोहिणी।
रोहिणी के राजनीति में आने की चर्चा इसलिए भी तेज है, क्योंकि सबसे पहले उनका नाम खुलकर तब सामने आया था जब वर्ष 2016 में तेजस्वी यादव बिहार के डिप्टी सीएम थे। उसी दौर में तेजस्वी का नाम बेनामी संपत्ति मामले में सामने आया था। उस वक्त यह खबर भी सामने आई थी कि लालू परिवार तेजस्वी को हटाने पर विचार कर रहा है और उनकी जगह रोहिणी आचार्य को उपमुख्यमंत्री बनाया जा सकता है। इसकी वजह यह भी थी कि तब मीसा भारती और उनके पति शैलेश कुमार का भी नाम इसी मामले में आया था। जाहिर है ऐसे में मीसा भारती के नाम की चर्चा हो भी नहीं सकती थी। लालू की रिहाई को रोजा रखने का ऐलान कर चर्चा में आईं।
हालांकि तब भी आधिकारिक तौर पर रोहिणी का नाम सामने नहीं आया था। इसके बाद नीतीश कुमार ने राजद का साथ छोड़ा और भाजपा के साथ सरकार बन गई। तब रोहिणी पर हो रही चर्चा भी वहीं थम गई। हाल में चारा घोटाले में जेल जाने के बाद से लालू यादव की बेटी रोहिणी ने अपनी सक्रियता ट्विटर पर दिखाई और अपने पिता लालू प्रसाद यादव की रिहाई के लिए आवाज बुलंद करती रहीं। सबसे अधिक चर्चा तब हुई जब उन्होंने पिता की रिहाई के लिए रोजा रखने का ऐलान किया। इसके बाद तो वह अक्सर बिहार से संबंधित हर मुद्दे पर अपनी राय रखती हैं।
डॉ रोहिणी आचार्य के निशाने पर अक्सर रहते हैं ये नेता
रोहिणी के ट्विटर अकाउंट को देखें तो उनके निशाने पर न सिर्फ मुख्यमंत्री नीतीश कुमार बल्कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी रहते हैं। गृहमंत्री अमित शाह के अलावा उन्होंने सुशील मोदी पर भी बेहद तीखी टिप्पणियां की हैं। बक्‍सर में गंगा में मिलीं लाशों को लेकर एक्‍ट्रेस कंगना रानौत को भी उन्होंने आंख की अंधी और दिमाग के पैदल बताया था। विशेष तौर पर नजर देने की बात यह भी है कि लालू की बड़ी बेटी व राज्‍यसभा सांसद मीसा भारती उतनी सक्रिय नहीं दिख रही हैं और न ही उनका ट्विटर अकाउंट ही ज्यादा एक्टिव है।

मुठभेड़: सुरक्षाबलों ने 13 नक्सलियों को मार गिराया

सुनील चौबे  

गढ़चिरौली। मुठभेड़ में सुरक्षाबलों ने 13 नक्सलियों को मार गिराया है। गढ़चिरौली डीआईजी संदीप पाटिल ने इसकी पुष्टि की है। 6 नक्सलियों के शव बरामद कर लिए गए हैं।

बता दें छत्तीसगढ़ सीमा से लगे गढ़चिरौली में भारी संंख्या में नक्सलियों के जुटने की सूचना पर फोर्स ने दबिश दी। पुलिस और नक्सलियों के बीच मुठभेड़ अब भी जारी है। गढ़चिरौली के एटापल्ली के पयडी-कोटमी जंगल में ये एनकाउंटर चल रहा है। गढ़चिरौली एसपी ने इसकी पुष्टि की है। बताया जा रहा है फोर्स ने पूरे इलाके से नक्सलियों का सफाया कर दिया है। नक्सलियों का मौत का आंकड़ा और बढ़ सकता है।

सोने के दामो में 4 दिनों में तीसरी बार गिरावट दर्ज

कविता गर्ग   

नई दिल्ली। वैश्विक दरों में गिरावट के बीच आज भारत में सोने की कीमतों पर दबाव रहा। शुक्रवार को एमसीएक्स (MCX) पर सोने की कीमतों में चार दिनों में तीसरी गिरावट देखी गई है। इसी के साथ सोना वायदा 0.4% गिरकर ₹48358 प्रति 10 ग्राम पर आ गया. चांदी वायदा 0.8% गिरकर 71,748 रुपये प्रति किलोग्राम पर आ गई। विश्लेषकों का कहना है कि इस सप्ताह क्रिप्टोकरेंसी में अधिक उतार-चढ़ाव ने निचले स्तर पर सोने का समर्थन किया है। वहीं, अमेरिकी अर्थव्यवस्था में सुधार होने से इंटरनेशनल स्पॉट प्राइस में कमी आई है जिसका असर भारतीय बाजारों पर भी नजर आ रहा है।

जानिए अपने शहर में सोने के भाव

देश की राजधानी दिल्ली में आज 22 कैरेट सोने के दाम 350 रुपए बढ़कर 46,000 रुपये प्रति 10 ग्राम चल रहा है। जबकि 24 कैरेट सोने के दाम 47,000 रुपये प्रति 10 ग्राम के लेवल पर है। सोने की कीमतें टैक्स की वजह से अलग-अलग राज्यों में अलग-अलग लेवल पर होती है। देश की आर्थिक राजधानी मुंबई में 22 कैरेट सोने के दाम 46,000 रुपये प्रति 10 ग्राम और 24 कैरेट सोने के दाम 50,160 रुपये प्रति 10 ग्राम हैं। पुणे में 22 कैरेट सोने के भाव 46,000 रुपये प्रति 10 ग्राम और 24 कैरेट सोने के दाम 47,000 रुपये प्रति 10 ग्राम हैं। नागपुर में 22 कैरेट सोने के दाम 46,000 रुपये प्रति 10 ग्राम और 24 कैरेट सोने के भाव 47,000 रुपये प्रति 10 ग्राम हैं। चेन्नई में 22 कैरेट सोने के दाम 45,980 रुपये प्रति 10 ग्राम हैं और 24 कैरेट सोने के दाम 50,160 रुपये प्रति 10 ग्राम हैं। लखनऊ में 22 कैरेट सोने के दाम 46,930 रुपये प्रति 10 ग्राम हैं और 24 कैरेट सोने के दाम 50,830 रुपये प्रति 10 ग्राम हैं।

सोने में है निवेश का शानदार मौका

सोना निवेश के लिए एक सुरक्षित आइटम है. किसी भी संकट के समय निवेशक सोने की ओर ज्यादा तवज्जो देते हैं। निवेशक सुरक्षित निवेश के लिए सोने की तरफ जा रहे हैं, जो आने वाले महीनों में इसकी कीमतों में तेजी का कारण बनेगा। कोरोना वायरस सोने की कीमतों में तेजी का एक कारण हो सकता है। हाल ही में सामने एक रिपोर्ट में बताया गया है कि आने वाले महीनों में कोरोना की तीसरी लहर भी आएगी। एक्सपर्ट का मानना है कि आने वाले समय में सोना 50 हजार पार करेगा इसलिए निवेश के लिहाज से यह उचित समय है।

क्रैश होने से पहले वीडियो बनाई, पायलट की मौत

सत्येंद्र पंवार  

मेरठ/नई दिल्ली। पंजाब के मोगा में भारतीय वायु सेना का मिग-21 लड़ाकू विमान क्रैश हो गया। इस दुर्घटना में मेरठ के गंगानगर निवासी फायटर पायलट स्कॉर्डन लीडर अभिनव चौधरी की मौत हो गई। वह मूल रूप से बागपत के पुसार गांव के रहने वाले थे। परिवार लंबे समय से मेरठ में ही रह रहा था। उनकी मौत की खबर आते ही परिवार पर दुख का कहर टूट पड़ा। परिवार और अभिनव को जानने वाले घटना पर यकीन नहीं कर पा रहे हैं। 25 दिसंबर 2019 को ही अभिनव की शादी धूमधाम से मेरठ में ही हुई थी। वायु सेना में स्कॉर्डन लीडर और किसान के पुत्र अभिनव लगन में 1 रुपये में लेकर सगाई संपन्न कर दहेज लोभियों को करारा तमाचा जड़ा था। युवा पायलट ने दहेज लेने से इनकार कर अपने जीवन की महत्वपूर्ण पारी डेढ़ साल पहले ही शुरू की थी। एक से बढ़कर एक रिश्ते ठुकरा कर अभिनव के परिवार ने पूरे समाज को एक सकारात्मक संदेश दिया था। परिवार ने रस्म में लड़की पक्ष से भेंट किए गए नकद धनराशि भी ससम्मान वापस लौटा दी थी।

मूल रूप से बागपत के बड़ौत-बुढ़ना रोड स्थित पुसार गांव निवासी किसान सतेंद्र चौधरी सी-91 गंगासागर कॉलोनी में सपरिवार रहते हैं। उनका बेटा स्कॉर्डन लीडर अभिनव चौधरी वायु सेना में मिग-21 का फायटर पायलट थे। वह पठानकोट एयरबेस में तैनात थे। अभिनव का रिश्ता एक प्रधानाध्‍यापक की बेटी सोनिका उज्जवल से हुआ था। सोनिका उज्जवल ने फ्रांस में मास्टर ऑफ साइंस की पढ़ाई की थी। अभिनव के पिता सतेंद्र चौधरी ने शादी की रस्म के तहत केवल एक रुपया स्वीकार किया था। सतेंद्र का कहना था कि शादी में दहेज की कोई भूमिका नहीं होनी चाहिए। दो परिवारों को जोड़ने के लिए दहेज का लेन-देन जरूरी नहीं है। दहेज प्रथा पर पूर्ण रूप से रोक लगनी चाहिए।

मूल रूप से बागपत के बड़ौत-बुढ़ना रोड स्थित पुसार गांव निवासी किसान सतेंद्र चौधरी सी-91 गंगासागर कॉलोनी में सपरिवार रहते हैं। उनका बेटा स्कॉर्डन लीडर अभिनव चौधरी वायु सेना में मिग-21 का फायटर पायलट थे। वह पठानकोट एयरबेस में तैनात थे। अभिनव का रिश्ता एक प्रधानाध्‍यापक की बेटी सोनिका उज्जवल से हुआ था। सोनिका उज्जवल ने फ्रांस में मास्टर ऑफ साइंस की पढ़ाई की थी। अभिनव के पिता सतेंद्र चौधरी ने शादी की रस्म के तहत केवल एक रुपया स्वीकार किया था। सतेंद्र का कहना था कि शादी में दहेज की कोई भूमिका नहीं होनी चाहिए। दो परिवारों को जोड़ने के लिए दहेज का लेन-देन जरूरी नहीं है। दहेज प्रथा पर पूर्ण रूप से रोक लगनी चाहिए।

19 करोड़ 18 लाख 79 हजार 503 का टीकाकरण

अकांशु उपाध्याय   
नई दिल्ली। देश में कोरोना वायरस (कोविड-19) की रफ्तार थोड़ी धीमी पड़ने तथा संक्रमण के नये मामलों की तुलना में इससे ठीक होने वाले लोगों की संख्या अधिक रहने के कारण पिछले 24 घंटों के दौरान एक लाख से ज्यादा सक्रिय मामले कम हुए हैं। इस बीच पिछले 24 घंटों के दौरान 14 लाख 82 हजार 754 लोगों को कोरोना के टीके लगाये गये। देश में अब तक 19 करोड़ 18 लाख 79 हजार 503 लोगों का टीकाकरण किया जा चुका है।
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से शुक्रवार की सुबह जारी आंकड़ों के अनुसार पिछले 24 घंटों में 2,59,591 नये मामले आने के साथ ही संक्रमितों का आंकड़ा बढ़कर दो करोड़ 60 लाख 31 हजार 991 हो गया। इस अवधि में तीन लाख 57 हजार 295 मरीज स्वस्थ हुए हैं। कोविड-19 से 4,209 और लोगों की मौत के बाद मृतक संख्या बढ़कर 2,91,331 हो गई।
इसके बाद देश में अब तक 2,27,12,735 इस महामारी को मात दे चुके हैं और रिकवरी रेट, जिससे रिकवरी दर 87.25 फीसदी हो गई है। इस दौरान सक्रिय मामले 1,01,953 कम होकर 30 लाख 27 हजार 925 हो गये हैं। इसी दौरान 4,209 मरीज अपनी जान गंवा बैठे और इस बीमारी से मरने वालों की संख्या बढ़कर 2,91,331 हो गयी है। देश में सक्रिय मामलों की दर घटकर 11.63 फीसदी पर आ गयी है, वहीं मृत्युदर बढ़कर 1.12 फीसदी हो गयी है।

महाराष्ट्र में सक्रिय मामले 18444 कम होकर 385785 हो गये हैं। इस दौरान राज्य में 47371 और मरीजों के ठीक हाेने के बाद कोरोनामुक्त होने वालों की तादाद बढ़कर 5026308 हो गयी है जबकि 984 और मरीजों की मौत होने से मृतकों का आंकड़ा बढ़कर 85355 हो गया है। केरल में इस दौरान सक्रिय मामले 14006 घटकर 318220 रह गये तथा 44369 मरीजों के स्वस्थ होने से कोरोना को मात देने वालों की संख्या बढ़कर 1938887 हो गयी है जबकि 128 और मरीजों की मौत होने से मृतकों की संख्या 6852 हो गयी है।

महंगाई: पेट्रोल-डीजल के दामो में फिर लगी आग

अकांशु उपाध्याय   
नई दिल्ली। पेट्रोल-डीजल के दाम दो दिन बाद शुक्रवार को एक बार फिर बढ़ाये गये जिससे पेट्रोल मुंबई में 100 रुपये प्रति लीटर के और करीब पहुंच गया जबकि दिल्ली तथा कोलकाता में 93 रुपये प्रति लीटर को पार कर गया। अग्रणी तेल विपणन कंपनी इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन की वेबसाइट के अनुसार, देश के चार प्रमुख महानगरों में आज पेट्रोल की कीमत 19 पैसे तक और डीजल की कीमत 30 पैसे तक बढ़कर नये रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गये। इसका असर रोज के जरुरत के सामानों पर भी सीधा पड़ेगा।राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में पेट्रोल 19 पैसे महंगा होकर 93.04 रुपये प्रति लीटर और डीजल 29 पैसे की बढ़त के साथ 83.80 रुपये प्रति लीटर हो गया। गत 04 मई से अब तक 11 दिन पेट्रोल-डीजल के दाम बढ़ाये गये हैं जबकि सात दिन स्थिर रहे हैं। इस दौरान दिल्ली में पेट्रोल 2.64 रुपये और डीजल 3.07 रुपये महंगा हो चुका है।
मुंबई में पेट्रोल 18 पैसे महंगा होकर 99.32 रुपये, चेन्नई में 17 पैसे महंगा होकर 94.71 रुपये और कोलकाता में 19 पैसे महंगा होकर 93.11 रुपये प्रति लीटर के भाव बिका। डीजल की कीमत मुंबई, कोलकाता और चेन्नई में क्रमश: 30 पैसे, 28 पैसे और 29 पैसे बढ़ी। एक लीटर डीजल मुंबई में 91.01 रुपये, चेन्नई में 88.62 रुपये और कोलकाता में 86.64 रुपये का बिका। पेट्रोल-डीजल के मूल्यों की रोजाना समीक्षा होती है और उसके आधार पर हर दिन सुबह छह बजे से नयी कीमतें लागू की जाती हैं।

ब्लैक फंगस संक्रमण को ‘महामारी’ घोषित किया

संदीप मिश्र   

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को अधिकारियों को निर्देश दिये कि कोविड-19 महामारी से उबरे मरीजों को निशाना बना रहे ब्लैक फंगस संक्रमण को ‘महामारी’ घोषित किया जाये । कोविड 19 प्रबंधन हेतु गठित अधिकारियों की टीम की बैठक में शुक्रवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा ”कोविड-19 से उबरने वाले मरीजों में से कुछ में ब्लैक फंगस के संक्रमण की समस्या तेजी से बढ़ रही है।

स्वास्थ्य विशेषज्ञों के परामर्श के अनुरूप, प्रदेश सरकार सभी मरीजों के समुचित चिकित्सकीय उपचार की व्यवस्था कर रही है। केंद्र सरकार के निर्देशों के क्रम में कोविड की तर्ज पर ब्लैक फंगस को भी अधिसूचित बीमारी घोषित किया जाए। इस संबंध में आदेश आज ही जारी कर उसे लागू दिया जाए।” सरकार द्वारा जारी एक बयान के मुताबिक, मुख्यमंत्री ने ब्लैक फंगस की दवा की पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित करने के भी निर्देश दिए।

पूर्व पीएम राजीव गांधी की पुण्यतिथि पर श्रद्धांजलि दी

आकांक्षा उपाध्याय   

नई दिल्ली। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी, महासचिव प्रियंका गांधी वाद्रा तथा पार्टी के कई अन्य वरिष्ठ नेताओं ने पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की 30वीं पुण्यतिथि के अवसर पर शुक्रव्रार को उन्हें श्रद्धांजलि दी और देश के विकास में उनके योगदान को याद किया। राहुल गांधी ने ‘वीर भूमि’ जाकर अपने पिता की समाधि पर पुष्प अर्पित किए।

उन्होंने ट्विटर पर अपने पिता की एक तस्वीर साझा करते हुए कहा, ”सत्य, करुणा, प्रगति।” वहीं, प्रियंका गांधी वाड्रा ने भी अपने पिता को श्रद्धांजलि दी। उन्होंने राजीव गांधी की एक तस्वीर साझा करते हुए ट्वीट किया, ”प्रेम से बड़ी कोई ताकत नहीं है, दया से बड़ा कोई साहस नहीं है, करुणा से बड़ी कोई शक्ति नहीं है और विनम्रता से बड़ा कोई गुरु नहीं है।” राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा कि देश राजीव गांधी को एक ऐसे नेता के तौर पर हमेशा याद करेगा जिन्होंने आधुनिक भारत की नींव रखी।

उन्होंने एक बयान में कहा, ”राजीव जी को हमेशा याद किया जाएगा क्योंकि वह औद्योगिकीकरण और सूचना प्रौद्योगिकी की 21वीं सदी की तरफ भारत को ले गए। सब जानते हैं कि देश में दूरसंचार क्रांति की शुरुआत राजीव गांधी जी ने की।” कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने राजीव गांधी को याद करते हुए ट्वीट किया, ”आज हम भारत के सबसे महान बेटों में से एक और पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी जी को उनके शहादत दिवस पर याद करते हैं और श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं। वह विचारों और ऊर्जा से ओत-प्रोत थे और भारत को एक बड़ी ताकत बनाने का उनका सपना था।”

पार्टी के संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल, मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला और कई अन्य नेताओं ने भी राजीव गांधी को याद किया। राजीव गांधी की पुण्यतिथि पर कांग्रेस, कोरोना महामारी से निपटने के लिए मास्क पहनने और टीकाकरण के पंजीकरण को लेकर जागरुकता अभियान चला रही है। उसकी प्रदेश इकाई और युवा कांग्रेस तथा कांग्रेस अन्य संगठन कोरोना प्रभावित परिवारों को भोजन सामग्री भी वितरित कर रहे हैं। गौरतलब है कि 21 मई, 1991 को तमिलनाडु के श्रीपेरूंबुदूर में एक विस्फोट में राजीव गांधी की मौत हो गयी थी।

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

1. अंक-279 (साल-02)
2. शनिवार, मई 22, 2021
3. शक-1984, बैसाख, शुक्ल-पक्ष, तिथि-एकादशी, विक्रमी सवंत-2078।
4. सूर्योदय प्रातः 05:58, सूर्यास्त 07:07।
5. न्‍यूनतम तापमान -12 डी.सै., अधिकतम-33+ डी.सै.। तेज हवाओं के साथ बरसात की संभावना बनी रहेगी।
6.समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है।
7.स्वामी, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी।
8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102।
9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.-20110
http://www.universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
संपर्क सूत्र :- +919350302745  
                     (सर्वाधिकार सुरक्षित)

अमेरिकी एक्सचेंज नैसडैक पर शानदार एंट्री की

अकांशु उपाध्याय      नई दिल्ली। बिजनेस सॉफ्टवेयर फर्म फ्रेशवर्क्स इंक ने बुधवार को अमेरिकी एक्सचेंज नैसडैक पर शानदार एंट्री की है। अपने शानद...