शनिवार, 4 अप्रैल 2020

कोरोनाः रूस में भूकंप ने तबाही मचाई

मॉस्को। एक तरफ जहां दुनियाभर में कोरोना वायरस का कहर नजर आ रहा है, वहीं दूसरी तरफ रूस में भूकंप ने तबाही मचाई है। रूस के उत्तरी पेसिफिक आइलैंड में बुधवार 25 मार्च को भीषण भूकंप आया है। इसकी रिक्टर स्कैल पर तीव्रता 7.5 मापी गई है और इसके बाद रूस के पूर्व में स्थित कुर्ली आइलैंड में सुनामी की चेतावनी जारी कर दी गई है. साथ ही हवाई में भी अलर्ट जारी किया गया है।


अमेरिकी जियोलॉजिकल सर्वे के अनुसार, यह भूकंप जापान सुदूर उत्तर में स्थित कुर्ली चेन के सेवेरो के उत्तर-पूर्व में 219 किमी दूर इस भूकंप का केंद्र बताया गया है। यह सतह से 56 किमी गहराई में है। अब तक इस भूकंप की वजह से किसी तरह के जानमाल के नुकसान की सूचना नहीं है लेकिन पेसिफिक सुनामी वॉर्निंग सेंटर के अनुसार 1000 किमी के दायरे में भयानक सुनामी का खतरा पैदा हो गया है। अलर्ट में कहा गया है कि इससे पहले भी भूकंप के केंद्र से कई किलोमीटर दूर तक सुनामी का असर देखा गया है। इसके अलावा अमेरिका के हवाई में भी सुनामी का अलर्ट जारी किया गया है। साथ ही सुनामी वॉर्निंग सेंटर अलास्का और अमेरिका को भी होने वाले संभावित नुकसान का आंकलन कर रहा है। दूसरी तरफ जापान में भी अलर्ट जारी किया है और कहा गया है कि समुद्र में ऊंची लहरें उठ सकती हैं हालांकि, सुनामी की कोई चेतावनी जारी नहीं की गई है।लेकिन लोगों को सतर्क रहने के निर्देश जारी कर दिए गए हैं।


पाक में लॉक डाउन सख्ती से लागू

इस्लामाबाद। चीन के वुहान से फैले कोरोना वायरस ने पड़ोसी देस पाकिस्तान को भी अपनी चपेट में ले लिया है। इसे देखते हुए इमरान खान सरकार ने लॉक डाउन की घोषणा कर दी थी, जिसके चलते मंगलवार को लाखों लोग घरों में रहे। सड़कों को सुनसान किया गया, सार्वजनिक परिवहन, कार्यालय, दुकानें, बाजार, पार्क, और अन्य सार्वजनिक स्थलों को सभी चार प्रांतों, उत्तरी गिलगित-बाल्टिस्तान क्षेत्र, और पाकिस्तान प्रशासित कश्मीर में बंद रखा गया।


पाकिस्तान में कोरोनवायरस वायरस के मामलों की संख्या 900 तक पहुंच गई है, जबकि लगभग सात लोगों की मौत हो चुकी है।सोमवार को, सरकार ने लॉक डाउन के लिए देशभर में सेना के जवानों की तैनाती की, जो अगले दो सप्ताह तक चलेगी। सरकार ने मंगलवार आधी रात से 31 मार्च तक देश भर में रेलवे परिचालन को स्थगित करने की घोषणा की। इससे पहले ट्रेनों में सवार होने के लिए कराची, लाहौर और अन्य रेलवे स्टेशनों पर लोग लंबी कतार में लगे दिखे, जिसके फुटेज जियो न्यूज पर दिखाए गए। जमात इस्लामी ने कोरोना रोगियों के लिए अपने मुख्य हेड क्वार्टर मंसूरा लाहौर को अलगाव केंद्र में परिवर्तित कर दिया।दूरदराज के कई इलाकों से लॉक डाउन का पालन नहीं करने की खबरें सामने आईं। पाकिस्तान में स्वास्थ्य सेवाओं की अच्छी व्यवस्था नहीं है, लिहाजा सरकार लोगों से खुद ही घरों में रहकर सुरक्षित रहने की अपील कर रही है।राजधानी इस्लामाबाद, वाणिज्यिक राजधानी कराची, सांस्कृतिक केंद्र लाहौर और अन्य प्रमुख शहरों में सामान्य रूप से हलचल वाली सड़कों और सार्वजनिक स्थान पूरी तरह से खाली थे और सेना व पुलिस के जवानों ने सड़कों पर गश्त की।कई शहरों में बंद का उल्लंघन करने वाले दुकानदारों सहित कई लोगों को गिरफ्तार किया गया। सर्वोच्च और उच्च न्यायालयों सहित न्यायपालिका ने भी अपने कार्यों को सीमित कर दिया है, और केवल आवश्यक मामलों की सुनवाई कर रहे हैं। जेलों में COVID-19 के प्रकोप के खतरों को कम करने के लिए इस्लामाबाद उच्च न्यायालय ने जमानत पर छोटे अपराधों में शामिल सैकड़ों कैदियों को रिहा करने का आदेश दिया।यह कदम ऐसे समय में उठाया गया है, जब लाहौर जेल में कोरोनोवायरस मामले की पहली पुष्टि हुई। मामलों की बढ़ती संख्या के बावजूद, संक्रमित होने वाले अधिकांश लोग हल्के लक्षणों से पीड़ित होते हैं और ठीक हो जाते हैं।


स्पेनः 9053 की मौत, लाखों संक्रमित

कुल 9053 मरे, मरीजों की संख्या एक लाख पार


मैड्रिड। दुनिया भर में फैली कोरोना वायरस महामारी से जूझ रहे 180 देशों में कोविड 19 से सबसे ज्यादा मौत वाले दूसरे नंबर के देश स्पेन में पिछले 24 घंटे में 864 कोरोना मरीजों की मौत हो गई है जो कोरोना संकट में एक दिन में स्पेन में सबसे ज्यादा मौत है। स्पेन में कोरोना पॉजिटिव केसों की संख्या एक लाख को पार कर गई है जबकि कुल मौत की संख्या 9053 हो चुकी है।


मंगलवार तक स्पेन में 8189 मौत हुई थी जबकि पॉजिटिव केसों की संख्या 94417 थी। स्पेन में कोरोना मरीजों की संख्या बढ़कर 1 लाख 2 हजार 136 हो चुकी है। स्पेन में 14 मार्च से लॉकडाउन है लेकिन मरीजों और मौत के बढ़ते आंकड़ों से लगता नहीं है कि कोरोना वायरस का प्रकोप कम हो रहा है। स्पेन के स्वास्थ्य अधिकारियों का कहना है कि बीमारी अब स्टैबलाइजेशन फेज में घुस रही हो सकती है- मतलब ऐसी स्थिति जब मौत और नए मरीजों की संख्या हर रोज बहुत ज्यादा बढ़ना बंद हो जाए।बढ़ती मौत के साथ ही पीएम पेड्रो सांचेज सरकार पर विपक्ष का हमला तीखा होता जा रहा है जो सरकार पर सही समय पर कड़े और जरूरी कदम ना उठाने का आरोप लगा रही है। वहीं सरकार कह रही है कि वो विश्व स्वास्थ्य संगठन और सरकारी विशेषज्ञों की सलाह पर काम कर रही है।चीन से शुरू कोरोना के कहर का सबसे बड़ा शिकार यूरोपीय देश इटली बना है जहां अब तक 12 हजार से ज्यादा लोग मारे इस बीमारी से मर चुके हैं। मौत के मामले में स्पेन दूसरे नंबर पर है और उसके बाद अमेरिका है जहां अब तक 4000 से ज्यादा लोग कोरोना से जान गंवा चुके हैं।अमेरिका के बाद फ्रांस है जहां साढ़े तीन हजार से ज्यादा लोग मर चुके हैं। चीन पांचवें नंबर पर है जहां 3300 से कुछ ज्यादा मौत की आधिकारिक पुष्टि की गई है। 500 से ज्यादा मौत वाले देशों में ईरान, यूनाइटेड किंगडम, नीदरलैंड, जर्मनी, बेल्जियम भी शामिल है। भारत में कोरोना के अब तक 1673 मामले सामने आए हैं जिसमें 133 ठीक हुए जबकि 38 की मौत हुई है।


सोशल डिस्टेंसिंग, को समझे नागरिक

न्यूयॉर्क। कोरोना वायरस संक्रमित व्यक्ति के शरीर में ही नहीं बल्कि उसकी गैर-मौजूदगी में कमरे में टिका रह सकता है। यह जानकारी एक नए अध्ययन से सामने आई है। अध्ययन में पाया गया है कि जब मरीज अपने कमरे में नहीं होता है तब भी वायरस के अंश हवा में मौजूद रहते हैं। इसने अध्ययन ने मरीज के संपर्क में आने वाले मेडिकल स्टाफ के प्रॉटेक्टिव सूट पहनने की जरूरत पर बल दिया है।


वैज्ञानिकों को यूनिवर्सिटी ऑफ नेब्रास्का मेडिकल सेंटर में रूम और उससे बाहर जा रहे रास्तों में वायरस के अंश मिले हैं जहां कोरोना के मरीजों को आइसोलेशन में रखा गया था। साइंस वेबसाइट MedRxiv में प्रकाशित रिपोर्ट को लिखने वाले वैज्ञानिक जॉन लोई ने कहा, ‘हमने और नमूनों को चिह्नित किया है जिसमें हवा में वायरस के जीन्स पाए गए हैं, इसने स्वसन संबंधी सुरक्षा पर ध्यान देने के महत्व को दर्शाया है।’इसलिए मेडिकल स्टाफ के लिए एहतियात जरूरी
रिपोर्ट को लिखने से पहले अस्पताल के 11 कमरे के सैंपल लिए गए हैं और इसमें एक ही जगह बड़ी मात्रा में वायरस को एकत्रित पाया गया। रूम के बाहर जहां से अस्पताल के कर्मचारी गुजर रहे थे वे भी पॉजिटिव पाए गए हैं। शोधकर्ताओं ने कहा कि अध्ययन में अभी यह विश्लेषण नहीं किया गया है कि वायरस हवा में विस्तार लेने वाले हैं या नहीं, लेकिन इसने मेडिकल स्टाफ के प्रॉटेक्टिव सूट पहनने पर जोर दिया है। रिपोर्ट के एक अन्य राइटर जोशुओ ने कहा, ‘इस तरह के अध्ययन से हेल्थ केयर वर्कर्स, मरीज के संपर्क में रहने वाले लोगों की सुरक्षा की जरूरत को समझा जा सका है जो कि मरीज की देखभाल करते हैं और उन्हें इस महामारी से लड़ने की जरूरत है।’ उन्होंने कहा, ‘मौजूदा अध्ययन जारी रहेगा और ताकि कोरोना वायरस के ट्रांसमिशन को समझा जाए और कोरोना के मरीजों की देखभाल में जुटे लोगों की सुरक्षा के रास्ते ढूंढने में मदद मिले।


भारत-अमेरिका करेंगे वायरस का सामना

भारत-अमेरिका साझेदारी के साथ पूरी ताकत से करेंगे कोरोना का सामना


ट्रंप से फोन पर बातचीत के बाद बोले पीएम मोदी


नई दिल्ली। कोरोना के खिलाफ 21 दिनों के लॉकडाउन के बीच पूरा देश महामारी से इस वक्त डटकर सामना कर रहा है। इस बीच, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति ने कोविड-19 पर शनिवार को गहन चर्चा की। दोनों नेताओं ने कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में भारत-अमेरिका साझेदारी की पूरी ताकत का उपयोग करने का संकल्प लिया।
 पीएम मोदी ने ट्वीट करते हुए कहा कि उनकी अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के साथ फोन पर चर्चा हुई। उन्होंने कहा, ”हमारी चर्चा काफी अच्छी रही और हमने कोविड-19 से निपटने में भारत-अमेरिका साझेदारी की पूरी ताकत का उपयोग करने पर सहमति व्यक्त की।


गौरतलब है कि अमेरिका में कोरोना वायरस संक्रमण के अब तक 2,78,458 मामले सामने आये हैं और 7,100 से अधिक मौतें हुई हैं।वहीं, भारत में 3,000 से अधिक मामले दर्ज किये गये हैं और 68 लोगों की मौतें हुई हैं। भारत में कोरोना के मामले 3 हजार के पारः भारत में कोरोना संक्रमण के मामले 3 हजार के पार हो चुके हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, शनिवार को कोरोना के नए मामले में पिछले 24 घंटे के दौरान अब तक की सबसे बड़ी बढ़ोत्तरी दर्ज हुई है। चौबीस घंटे के दौरान 525 नए मामले आए हैं। इसके बाद कोरोना के अब तक कुल मामले भारत में बढ़कर 3,072 हो गए हैं। इनमें से 2,784 एक्टिव केस, 235 डिस्चार्ज और 75 मौत शामिल हैं। कोरोना से दुनियाभर में 60 हजार की मौतः ना से दुनियाभर में तबाही मचा रखी है। इस महामारी के चलते दुनियाभर में 60 हजार लोगों की शनिवार की शाम तक मौत हो चुकी है। उधर, स्पेन ने कोरोना के चलते स्थिति को नियंत्रण में करने के लिए 25 अप्रैल तक लॉकडाउन को बढ़ा दिया है। स्पेन के प्रधानमंत्री पेड्रो सांचेज शनिवार (4 अप्रैल) को यह जानकारी दी। वहीं, इस वायरस की वजह से देश में अब तक 11 हजार से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। स्पेन में कोरोना वायरस के संक्रमण से होने वाली मौतों में लगातार दूसरे दिन कमी आई। हालांकि मौतों का आंकड़ा 809 रहा। यह जानकारी सरकार द्वारा शनिवार (4 अप्रैल) को जारी आधिकारिक आंकड़ों में दी गई। इसके मुताबिक स्पेन में गुरुवार (2 अप्रैल) को सबसे अधिक 950 लोगों की कोरोना वायरस के संक्रमण से मौत हुई थी। स्पेन में अब तक 11,744 लोगों की मौत हुई है जो इटली के बाद सबसे अधिक है। आंकड़ों के मुताबिक स्पेन में संक्रमण के नए मामलों में भी कमी आई है और 7,026 नये मामलों के साथ कुल संक्रमितों की संख्या 1,24,736 हो गई है। उधर, अमेरिका में शुक्रवार को अमिका में सबसे अधिक 1480 लोगों की मौत हुई।


कोरोना वायरस से सुरक्षित राज्य

गंगटोक। सिक्किम के एक वरिष्ठ स्वास्थ्य अधिकारी ने शुक्रवार को बताया कि अब तक राज्य में कोरोना वायरस से संक्रमण का कोई मामला सामने नहीं आया है।
महानिदेशक (स्वास्थ्य सेवा) पीटी भूटिया ने बताया कि प्रशासन ने 35 लोगों के नमूने जांच के लिए भेजे थे लेकिन किसी के भी कोरोना वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि नहीं हुई। उन्होंने बताया, ” अब तक राज्य में कोरोना वायरस से संक्रमण का एक भी मामला सामने नहीं आया है।”
भूटिया ने कहा कि हालांकि राज्य में कोरोना वायरस संक्रमण जैसे लक्षणों के कारण आठ लोगों को विभिन्न अस्पतालों में भर्ती कराया गया है। उन्होंने बताया कि राज्य में 1,122 लोगों को उनके घर में ही पृथक-वास में रखा गया है जबकि 107 लोगों को सरकारी पृथक केंद्रों में रखा गया है।


बांग्लादेश में 7 अप्रैल तक उड़ाने रद्द

ढाका। बांग्लादेश के नागरिक उड्डयन प्राधिकरण (सीएएबी) ने कोरोनोवायरस के प्रसार को रोकने के लिए सभी घरेलू उड़ानों और लगभग सभी अंतर्राष्ट्रीय उड़ानों पर 7 अप्रैल तक प्रतिबंध लगा दिया है। सीएएबी के प्रवक्ता मोहम्मद सोहेल कमरुज्जमां ने शनिवार को बीडीन्यूज24डॉटकाम को बताया कि हमने प्रतिबंध एक सप्ताह के लिए बढ़ा दिया है।
उन्होंने कहा कि मालवाहक विमान की उड़ानें सामान्य रूप से संचालित होंगी।


बांग्लादेश और अधिकांश अन्य देशों ने पहले ही महामारी से लड़ने के लिए हवाई यात्रा प्रतिबंधित कर दिया है।
बांग्लादेश ने इस महामारी को खत्म करने के प्रयासों के तहत लोगों को घर पर रखने के लिए सार्वजनिक परिवहन और कार्यालयों को 4 अप्रैल तक 10 दिनों के लिए बंद कर दिया। स्कूल और अन्य शैक्षणिक संस्थान 9 अप्रैल तक बंद रहेंगे।बीडीन्यूज24डॉटकाम के रिपोर्ट के मुताबिक बीमन बांग्लादेश एयरलाइंस ने शुक्रवार को कहा, “ब्रिटेन को अपनी अंतिम उड़ानें, जो यूरोप से आने वाले प्रतिबंधों के दायरे में नहीं थीं, मंगलवार को ढाका से रवाना होंगी और अगले दिन वापस आ जाएंगी।” यूरोप के अलावा, बांग्लादेश ने 21 मार्च को भारत, सऊदी अरब, कतर, बहरीन, कुवैत, यूएई, तुर्की, मलेशिया, ओमान और सिंगापुर के साथ हवाई संपर्क को बंद कर दिया। अधिकारियों ने कहा कि अभी चीन से कुछ उड़ानों का संचालन हो रहा है। बांग्लादेश में कोरोनावायरस से अब तक पांच की मौत हो चुकी है।


कुत्ते-बिल्लियों के मांस खाने पर रोक

बीजिंग। चीन के शेन्जेन शहर में कुत्ते और बिल्लियों का मांस खाने पर रोक लगा दी गई है। ऐसा करने वाला चीन का ये पहला शहर है। ये कदम कोरोना वायरस महामारी को देखते हुए उठाया गया है जिसका संबंध जंगली जानवरों के मांस के आहार से बताया जा रहा है। चीन सरकार ने इसके बाद जंगली जानवरों का मांस खाने पर पाबंदी लगा दी थी। मगर शेन्जेन ने एक कदम और आगे जाते हुए कुत्तों और बिल्लियों के मांस खाना भी बैन कर दिया है।


ह्यूमेन सोसायटी इंटरनेशनल नामक संस्था के अनुसार एशिया के देशों में हर साल तीन करोड़ कुत्तों को मांस के लिए मार दिया जाता है। हालांकि चीन में बिल्लियों का मांस खाना सामान्य नहीं है। वहां के ज्यादातर लोगों ने न तो इन जानवरों का मांस कभी खाया है और न ही वे इन्हें खाना चाहते हैं। समाचार एजेंसी रॉयटर्स के मुताबिक शेन्जेन सरकार ने कहा है, कुत्ते और बिल्लियां पालतू जानवरों के तौर पर इंसानों के काफी करीब हैं और पालतू जानवरों के मांस खाने पर विकसित देशों और हांगकांग और ताइवान में पाबंदी लगाई जाती रही है। ये बैन मानव सभ्यता के अनुकूल है। जानवरों के हितों के लिए काम करने वाली संस्था ह्यूमेन सोसायटी इंटरनेशनल ने इस कदम का स्वागत किया है। संस्था के विशेषज्ञ डॉक्टर पीटर ली ने कहा, ये फैसला उस बर्बर व्यापार पर रोक लगाने की दिशा में एक ऐतिहासिक कदम साबित होगा जिसमें चीन में हर साल एक करोड़ कुत्तों और 40 लाख बिल्लियों का कत्ल कर दिया जाता है।भालुओं का पित्त लेना जारीः मगर इन कदमों को उठाने के साथ-साथ चीन ने कोरोना के मरीजों के इलाज के लिए भालुओं के पित्त के इस्तेमाल करने की अनुमति दे दी है। चीन में भालुओं के पित्त में मौजूद एसिड का इस्तेमाल पथरी और लिवर की बीमारियों के इलाज के लिए देसी दवाओं के तौर पर होता रहा है। मगर इस बात के कोई प्रमाण नहीं हैं कि ये कोरोना के लिए भी कारगर है। ऐनिमल एशिया फाउंडेशन नामक संस्था के प्रवक्ता ब्रायन डेली ने समाचार एजेंसी एएफपी से कहा, हमें उस खतरनाक वायरस के इलाज के लिए जंगली जानवरों पर निर्भर नहीं होना चाहिए, जिसका स्रोत ही जंगली जानवर बताए जा रहे हैं। जंगली जानवरों का बाजारः चीन सरकार ने फरवरी में वन्य जीवों के व्यापार और उनके मांस के खाने पर रोक लगा दी थी। ये कदम ये बात सामने आने के बाद उठाया गया कि वुहान का एक बाजार से कोरोना वायरस फैलना शुरू हुआ जहां वन्य जीवों के मांस बेचे जाते थे। इन जानवरों के माध्यम से ही ये वायरस इंसानों में आया। मगर वैज्ञानिक अभी तक ये पता नहीं लगा पाए हैं कि इस वायरस का स्रोत क्या था और ये इंसानों में कैसे फैला।


हिमाचल में वायरस के मामले बढ़े

शिमला। हिमाचल में कोरोना वायरस के तीन नए मामले सामने आए हैं। सभी मरीज ऊना जिले के बताए जा रहे हैं। अतिरिक्त मुख्य सचिव स्वास्थ्य आरडी धीमान ने बताया कि सैंपल पॉजिटिव होने के साथ ही मरीजों के यात्रा इतिहास और कांटेक्ट ट्रेसिंग शुरू कर दी गई है। बताया कि गुरुवार को प्रदेश के 27 लोगों के कोरोना वायरस की जांच को लेकर सैंपल लिए गए थे जिनमें से तीन के सैंपल पॉजिटिव पाए गए हैं। एक का फिर से सैंपल लिया जा रहा है, बाकि 23 सैंपल सामान्य पाए गए हैं।


इसके साथ ही प्रदेश में अब कोरोना मरीजों की संख्या चार हो गई हैं। वहीं, स्वास्थ्य विभाग कांगड़ा में तीन से नौ अप्रैल से विदेशों और बाहरी राज्यों से आए लोगों के लिए सर्च अभियान चलाएगा। इसके लिए स्वास्थ्य विभाग ने जिले में लगभग 1700 टीमें गठित कर दी हैं। एक टीम प्रतिदिन कम से कम 30 घरों का भ्रमण करेगी। टीमें बीएमओ को हर दिन की गतिविधियों की रिपोर्ट करेगी। टीमों के निरीक्षण के लिए स्वास्थ्य अधिकारियों को जिम्मा सौंपा गया है। उधर, सीएमओ कांगड़ा डॉ. गुरदर्शन गुप्ता ने कहा कि एक्टिव केस फाइडिंग के लिए शुक्रवार से हर घर में टीमें जाएंगी। इसमें हाल ही में विदेशों और देश के बाहरी राज्यों से आए लोगों का डाटा एकत्रित किया जाएगा।


'चंडीगढ़' वासियों को मिली राहत

राणा ओबराय

चण्डीगढ़ वासियो को मिली राहत,दो दिनों में चंडीगढ़ में तीन कोरोना वायरस के मरीज हुए ठीक

चंडीगढ़। देशभर में कोरोना का कहर जारी है। इस बीच एक अच्छी खबर सामने आई है। दो दिनों में चंडीगढ़ में तीन कोरोना वायरस के मरीज ठीक हो गए है। इस बात की जानकारी चंडीगढ़ प्रशासक के सलाहकार मनोज परिदा ने दी है। जानकारी के अनुसार, शनिवार को जीएमसीएच 32 में भर्ती सेक्टर 30बी निवासी कोरोना पॉजिटिव युवक और 21डी निवासी 45 वर्षीया महिला को अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया। दोनों की रिपीट टेस्ट रिपोर्ट निगेटिव आई है। इससे पहले शुक्रवार रात पीजीआई से कोरोना संक्रमित 26 वर्षीय डॉक्टर को डिस्चार्ज किया था, जोकि लंदन से शहर लौटी थी। यहां अब पॉजिटिव मरीजों की गिनती 18 से घटकर 15 हो गई है। शुक्रवार को यहां सेक्टर-32 जीएमसीएच से चार कोरोना पॉजिटिव मरीजों को शिफ्ट भी कर दिया गया। शिफ्टिंग के दौरान संक्रमण के खतरे को कम करने के लिए ग्रीन कॉरिडोर का इस्तेमाल किया गया। पीजीआई प्रवक्ता डॉ. अशोक कुमार ने बताया कि मरीजों को हॉस्पिटल में शिफ्ट कर दिया गया है। अन्य मरीजों के लिए भी कमरे तैयार हैं। 300 बेड के नेहरू एक्सटेंशन को कोरोना के मरीजों के लिए ही तैयार किया गया है। वहां जिन डॉक्टरों और पैरा मेडिकल स्टाफ की ड्यूटी लगाई गई है, उनकी सुरक्षा के भी पुख्ता इंतजाम किए गए हैं, ताकि उन्हें संक्रमण न हो।


108 डॉक्टर-नर्स, कोरोना का संपर्क

राणा ओबराय

दिल्ली गंगाराम अस्पताल में कोरोना मरीजों के संपर्क में आए 108 डॉक्टर, नर्स और मेडिकल स्टाफ हुए क्वारंटाइन

नई दिल्ली। कोरोना महामारी से देश में संकट बढ़ता ही जा रहा है। दिल्ली के सर गंगाराम अस्पताल के 108 स्वास्थ्य कर्मचारियों को क्वारंटाइन किया गया है। इनमें 23 लोग अस्पताल में भर्ती हैं और 85 अपने घरों पर आइसोलेशन में रह रहे हैं। इनमें सीनियर डॉक्टर, नर्स और मेडिकल स्टाफ शामिल हैं। अस्पताल में भर्ती दो कोरोना संदिग्ध मरीजों की रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद यह फैसला लिया गया है।


अब दोनों मरीजों को आरएमएल अस्पताल में भेज दिया गया है। इन 108 लोगों में से कोरोना वायरस के संक्रमण के डर से अस्पताल प्रशासन ने यह फैसला लिया है। बता दें कि यहां पर दो ऐसे लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं, जो इस अस्पताल में दूसरी बीमारियों का इलाज कराने आए थे। पहले इन मरीजों में कोरोना वायरस के कोई लक्षण नहीं पाए गए थे, लेकिन जब इनका टेस्ट किया गया तो ये कोरोना पॉजिटिव पाए गए।जानकारी के अनुसार मरकज मामले के बाद दिल्ली में बड़ा इजाफा देखने को मिला है। दिल्ली में कोरोना वायरस के अब तक 400 मामले सामने आए हैं। यहां दिल्ली में कोविड-19 महामारी से जहां 7 लोगों की मौत हो चुकी है, वहीं 8 लोग पूरी तरह से स्वस्थ हो चुके हैं।.बता दें कि दिल्ली के निजामुद्दीन मरकज में तबलीगी जमात मामले से देश में कोरोना वायरस के मामलों में बड़ा इजाफा देखने को मिला है और शनिवार को यह आंकड़ा 2900 पार कर गया। वहीं, इस खतरनाक कोविड-19 महामारी से अब तक देशभर में जहां 68 लोग जान गंवा चुके हैं और 183 लोग पूरी तरह से ठीक हो गए हैं या फिर उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है। स्वास्थ्य मंत्रालय के शनिवार सुबह 9 बजे तक के अपडेटेड आंकड़ों के मुताबिक, देश में कोरोना वायरस के कुल 2901 मामलों में से 2650 केस एक्टिव हैं। महाराष्ट्र जहां 484 मामलों के साथ इस तालिका में टॉप पर है, वहीं दिल्ली में मरकज मामले के बाद संक्रमितों की संख्या में बड़ा इजाफा हुआ है और यह आंकड़ा 400 पहुंच गया है।


'सोशल मीडिया' की अफवाहो पर कार्रवाई

राणा ओबराय


हरियाणा सरकार ने टीमो का किया है गठन,सोशल मीडिया पर अफ़वाह फैलाई तो होगी सख्त क़ानूनी कार्यवाहीः पीसी मीना

चंडीगढ़। कोविड- 19 के संक्रमण संकट के समय किसी तरह की भ्रामक सूचना से विकट स्थिति पैदा हो सकती है, अपुष्ट सूचनाओं से आम जनता में भ्रम की स्थिति पेदा ना हो, इस लिहाज से सरकारी एजेंसियां भी इस बात पर कड़ी निगरानी रख रही हैं कि गलत अथवा आधारहीन सूचनाओं का प्रेषण न हो। कड़ी निगरानी रखने के लिए हरियाणा के सूचना व जनसम्पर्क निदेशक पी सी मीणा ने राज्यस्तरिय व ज़िला स्तरीय टीमों का व्यापक गठन किया है जो फ़ेस्बुक, ट्विटर, यूटूब, वेब पॉर्टल्ज़, न्यूज़ चैनल्ज़, अन्य सोशल मीडिया पलटेफ़ोरम पर नज़र रखेंगे । इस संदर्भ में राज्य में हरियाणा पुलिस की साइबर सेल इस इस बात पर पहले से नजर रख रही है कि किसी भी तरह की भ्रामक सूचनाओं का प्रेषण न हो।


सरकारी प्रवक्ता ने कहा कि आम जन को भी सोशल मीडिया अथवा अन्य कहीं से मिली कोई सूचना भ्रामक अथवा तथ्यों से परे लगती है तो वह इसकी सूचना पुलिस व स्थानीय प्रशासन को दे तथा diprfactcheck@gmail.com पर भी भेज सकता है।सरकारी प्रवक्ता के अनुसार सोशल मीडिया पर अफवाह या बिना पुष्टि किये गलत पोस्ट करने या फारवर्ड करने वालो खिलाफ आईपीसी की विभिन्न धाराओं के साथ साथ IT ऐक्ट व एपिडेमिक ऐक्ट में मामला दर्ज हो सकता है ,कानून में इसके लिये सजा का प्रावधान भी है। ऐसे में लोगों को सतर्क रहने की जरूरत है और सभी से अपील भी है कि वे सहयोग करे और सोशल मीडिया पर कोई भी पोस्ट या फ़ॉर्वर्ड जिम्मेदारी के साथ ही करे ताकि इस वैश्विक संकट में भ्रम की स्थिति पेदा ना हो।


6 लोगों में कोरोना संक्रमण की पुष्टि

रामायण यादव


कुशीनगर/महाराजगंज। जिले महराजगंज में 6 लोगों में कोरोना पॉजिटिव ही हुई पुष्टि। सभी लोग हजरत निजामुद्दीन के तब्लीगी मरकज में हुए थे शामिल। स्वास्थ्य विभाग ने सभी कोरोना पॉजिटिव मरीजों के परिजनों को जिला अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में किया शिफ्ट। लॉक डाउन का करें पालन। प्रशासन आप तक हर जरूरी समान उपलब्ध करा रहा है।घर में रहिए सुरक्षित रहिए। सरकार के दिशा निर्देशों का पालन करके अपना और अपने परिवार को सुरक्षित रख सकते हैं।


प्रधान ने वितरण किया मास्क व साबुन

ग्राम प्रधान द्वारा किया गया सराहनीय कार्य जरूरतमन्द लोगों को वितरण किया मास्क और साबुन


कोशाम्बी/करारी। मोअज्जमपुर गाँव में ग्राम प्रधान के द्वारा लोगों को मास्क तथा साबुन देकर सभी लोगों को साफ सफाई के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि 1मीटर की दूरी बनाये रखें ।और बताया कि इस समय विश्व के सभी देश कोरोना जैसे महामारी से बचने के लिए तरह तरह के हथकंडे अपना रहेहैं इस भयंकर महामारी से बचने के लिए हम सब की यह जिम्मेदारी है कि सभी लोग मिलकर लॉक डाऊन का पालन करें ।माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी की इस संकल्प तथा हम सब का संकल्प है कि कोरोना जैसे महामारी से निपटना है । कोरोना वायरस से फैली महामारी  में भी अपने परिवार और अपनी जान कि परवाह किये बगैर अपने देश के सभी कर्मचरियों को देखिये आप लोगों की जान की सुरक्षा के लिए रात दिन तात्पर्य रहते हैं ।चाहे छोटा कर्मचारि हो चाहे अधिकारी हो सभी के सभी अपनी जान की परवाह न करते हुए जनता की सुरक्षा में डटे हुये हैं ।


लवलेश कुमार


यूपी परिवहन निगम का बड़ा निर्णय

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर उत्तरप्रदेश परिवहन निगम का बड़ा निर्णय


लखनऊ। उत्तर-प्रदेश परिवहन निगम के 38000 संविदा कर्मियों को मिलेगा पूर्ण भुगतान। यूपी परिवहन निगम अपने आंतरिक संसाधनों से करेगा संविदा कर्मियों का भुगतान। मार्च महीने का कर्मियों का कुल भुगतान 52 करोड़ कर रहा यूपी परिवहन। लॉक डाउन की अवधि का 17 करोड़ का भुगतान भी किया जा रहा। लॉक डाउन के दौरान वाहन बंद होने के चलते परिवहन निगम की आय भी बंद है।


होमगार्ड के दो कक्षो में चले लाठी-डंडे

अतुल त्यागी जिला प्रभारी


फसल में पानी लगाने को लेकर होमगार्ड के दो कक्षो में खुलकर चले लाठी-डंडे दोनों पक्षों के 8 लोग गंभीर रूप से घायल


हापुड़। सिंभावली थाना क्षेत्र के गांव माधापुर में फसल में पानी लगाने को लेकर यूपी पुलिस के 2 होमगार्डों के परिवार में खुलकर चले लाठी-डंडे दोनों होमगार्ड कक्ष के होमगार्ड मुकेश दीपांशु, हिमांशु नितिन एवं होमगार्ड सोमदत्त महेश, सुनील बबलू सहित दोनों पक्ष के 8 लोग गंभीर रूप से घायल हो गए दोनों पक्षों के द्वारा थाने में दी गई तहरीर के आधार पर दोनों पक्षों को डॉक्टरी मुआयना कराते हुए पुलिस ने अग्रिम कार्रवाई शुरू कर दी है।


छत्तीसगढ़ में 2 माह का राशन निशुल्क

सक्ती। कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिये जारी लॉकडाउन के बीच गरीब परिवारों को छत्तीसगढ़ शासन की दो माह का मुफ्त राशन प्रदान करने की योजना ने लोगों को बड़ी राहत पहुंचाई है। उचित मूल्य दुकानों में राशन प्राप्त करने के लिए पहुंचे हितग्राहियों का कहना है कि उनकी रोजी-मजदूरी और व्यवसाय इस समय बंद है पर उनको भोजन की कोई समस्या आने वाले दो माह तक नहीं होने वाली है। नगर के समस्त उचित मूल्य दुकान में दो माह का चावल निःशुल्क लेने के बाद लोगों के चेहरे में संतोष का भाव दिखाई दे रहा है। आबिदा ने बताया कि लॉकडाउन और कोरोना संक्रमण की संभावना को देखते हुए वह काम पर नहीं जा रही है व घर पर ही रहती है। इस समय उसे आर्थिक समस्याओं का सामना करना पड़ रहा  था लेकिन सरकार द्वारा  उन्हें निःशुल्क चावल मिल रहा है, जिससे उसके दो वक्त के भोजन की समस्या दूर हो गई है। नाई का काम करने वाले बाहर से आए हुए कई लोगों के द्वारा राशन दुकान से मुफ्त राशन प्राप्त किया। लॉक डाउन के कारण  उनका व्यवसाय  नहीं चल रहा है। लॉकडाउन में  उनकी मूलभूत आवश्यकता परिवार के चार लोगों के लिए भोजन की व्यवस्था करनी है। शासन द्वारा निःशुल्क चावल वितरण से गरीब परिवारों को  इससे काफी मदद मिली है। इसी तरह उचित मूल्य दुकान में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं हो पा रहा है क्योंकि हर व्यक्ति चाह रहे हैं मुझे पहले मिले इसी में सब एक साथ भीड़ लगाकर झुंड में खड़े हो रहे हैं जिससे शासन प्रशासन के द्वारा दूरी बनाने की बात कही जा रही है वह पूरी नहीं हो पा रही है राशन पाने वाले हितग्राहियों को अनेकों बार दुकानदार द्वारा समझाया जाता है कि आप लोग दूरी बनाकर रखें परंतु भीड़ मानने को तैयार नहीं है और एक साथ झुंड में दुकान के सामने दुकानदार के सामने खड़े हो जाते हैं जिससे वितरण करने वाले को परेशानी हो रही है साथ ही बीमारी बढ़ने का भी डर बना हुआ है  शासकीय उचित मूल्य दुकान से निशुल्क चावल मिलने पर हितग्राहियों ने  कहा कि सरकार के  निर्णय से उन्हें इस विषम परिस्थिति में काफी मदद मिला है और उन्होंने देश के प्रधानमंत्री को साधुवाद धन्यवाद देते हुए कहा कि हमारे माननीय श्री नरेंद्र मोदी जी हम गरीबों का ध्यान रखते हुए हमें निशुल्क चावल दे रहे हैं इसके लिए बहुत-बहुत धन्यवाद।


डीएम-एसएसपी की संभ्रांत लोगों से बैठक

डीएम व एसएसपी द्वारा किया गया धर्मगुरुओं तथा संभ्रांत व्यक्तियों के साथ एक बैठक का आयोजन


अकाशुं उपाध्याय


गाजियाबाद। कोविड-19 (कोरोना वायरस) लॉकडाउन के सफल क्रियान्वयन व कोरोना संक्रमण के प्रसार को रोकने , जनपद में सौहार्द व सामन्जस्य/समन्वय  बनाए रखने हेतु आज कलैक्ट्रेट सभागार में श्रीमान जिलाधिकारी महोदय व वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक श्री कलानिधि नैथानी द्वारा धर्मगुरुओं तथा संभ्रांत व्यक्तियों के साथ एक बैठक का आयोजन किया गया।इस दौरान एडीएम सिटी व एसपी सिटी भी मौजूद रहे।           इस दौरान आवश्यक सतर्कता व सजगता बरतने, सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखने, किसी देश/राज्य या अन्य बाहरी आयोजन से क्षेत्र में आए हुए व्यक्तियों की पहचान व निगरानी कर तुरन्त पुलिस प्रशासन को सूचित करने के संबंध में अपील की गई तथा कोरोना संक्रमण से बचाव हेतु आवश्यक निर्देश दिए गए। साथ ही कहा कि यदि पुलिस / प्रशासन / CMO/ साफ सफाई की टीम किसी को आइसोलेशन/क्वारंटाइन करने के लिए किसी भी प्रकार की सहायता माँगती है तो प्रत्येक दशा में मदद करना सुनिश्चित करें / टीम को Cooperate करें। क्वॉरेंटाइन या आइसोलेट किए गए व्यक्तियों के परिजनों को द्वारा दूरभाष या अन्य किसी तरीके से प्रशासन/ पुलिस/चिकित्सकों को सहयोग करने हेतु  ब्रीफ कर दें।


        इस दौरान संक्रमण से खुद के बचाव हेतु सैनिटाइजर, मास्क, ग्लव्स आदि का उपयोग करते हुए लगातार साबुन से हाथ धोयें व सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें तथा अपने आसपास अन्य लोगों को भी उक्त के बारे में जागरूक करें। यह भी बताया गया कि आपसी सौहार्द/समन्वय बनाए रखें, किसी भी प्रकार की अफवाह ना फैलाएं तथा अफवाह फैलाने वालों के बारे में तत्काल पुलिस प्रशासन को सूचित कर कोरोना को समाप्त करने में सहयोगी बनें।


सेक्स वर्करों के सामने रोटी की समस्या

महाराष्ट्र। कोरोना वायरस से बचाव के लिए केंद्र और राज्य सरकार हर संभव कोशिश कर रही है। हालात को देखते हुए सरकार ने पूरे देश में लॉक डाउन कर दिया गया है, लेकिन अचाकन लॉक डाउन किए जाने से कई लोगों के सामने जीवन यापन का संकट पैदा हो गया है। ऐसा ही मामला नागपूर से सामने आया है, जहां सेक्स वर्कर्स के सामने रोजी रोटी की समस्या पैदा हो गई है। हलांकि केंद्र और राज्य की सरकार ने राहत के तौर पर गरीबों और राशनकार्ड धारियों को मुफ्त में राशन और अन्य सामाग्री देने का ऐलान किया है। मिली जानकारी के अनुसार लॉक डाउन किए जाने के बाद से नागपुर में सेक्स वर्कर्स के बीच अपनी और अपने परिवार की दिन-प्रतिदिन की जरूरतों को पूरा करने में कठिनाई का सामना करना पड़ रहा है। वे अब दाने-दाने को मेहताज हैं। मामले को लेकर एक सेक्स व​र्कर ने कहा है कि हमारे पास खाने के लिए कुछ भी नहीं है। हम उन लोगों पर निर्भर हैं जो हमारे जैसे जरूरतमंद लोगों के लिए भोजन प्रदान कर रहे हैं। लेकिन वे भी कभी आते हैं कभी नहीं आते। ऐसे हालात में हमारे सामने बड़ी समस्या खड़ी हो गई है।


ठंडे पड़े चूल्हो में उड़ेल दिया पानी

 उन्नाव। लॉक डाउन के चलते किसानों के घरों में ठंढे पड़े चूल्हों में कोटेदार ने उड़ेला पानी जनपद उन्नाव के विकास खण्ड हिलौली के ग्राम पंचायत संदाना के ग्राम बैसन खेड़ा में कोटेदार रणधीर सिंह ने राशन वितरण को लेकर किया भ्रष्टता की हद पार। छह यूनिट पर सिर्फ दस किलो चावल  ही दिया वही ग्रामीडो से बात करने पर आंसू निकल पड़े बताया कि यहां तो अंगूठा लगवाने के बाद पूरे महीने का राशन जप्त कर जाते हैं प्रधानमंत्री के आदेशों को भी किया दर किनार वही सूचना पाने पर उपजिलाधिकारी पुरवा ने सेक्टर मजिस्ट्रेट और हल्का इंचार्ज दरोगा, सीताराराम मिश्र को मौके पर भेजा जहा मौके पर पहुचते ही कोटेदार ने कोटा बंद कर हुआ। फरार वही सेक्टर मजिस्ट्रेट से बात करने पर उन्होंने बताया कि अगर धृष्टता पाई जाती है तो इनके खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्यवाही की जाएगी ग्रामीणों के द्वारा दर्द बताने पर भ्रष्टाचार पाने की तो कोई बात ही नहीं बनती है जबकि कल पुरवा उप जिलाधिकारी ने दो कोटेदारों के ऊपर मुकदमा भी पंजीकृत कराया वही पत्रकारों द्वारा सूचना देने पर यहां की शुद्ध क्यों नहीं ले रहा प्रशासन। विस्तृत खबर जल्द पेश की जाएगी।


संवाददाता-राजेश यादव


भूखे पेट को चाहिए बस 'निवाला'

मदद के लिए उठे हजारों हाथ
रजनीकान्त अवस्थी
रायबरेली। कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए तमाम स्वयंसेवी संस्थाएं गरीबों, असहायों बेघरों की मदद के लिए आगे बढ़ चढ़कर आ रही हैं।  उसी सिलसिले में स्थानीय निवासी रितेश मिश्रा उर्फ सोनू और उनके साथी जर्रार हुसैन प्रदेश अध्यक्ष अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ उत्तर प्रदेश और उनके  मित्र गण गरीबों और बेघरों को भोजन और पानी की व्यवस्था में 27 मार्च से लगातार अनवरत सच्ची सेवा भाव से मदद कर रहे हैं।
     आपको बता दें कि, गांव-गांव और पूरे जनपद में जा जाकर जरूरतमंदों को खाने का पैकेट पानी और अन्न की व्यवस्था हृदय से कर रहे हैं। रितेश मिश्रा के अनुसार वे और उनकी टीम तब तक यह कार्य करती रहेगी, जब तक लॉक डाउन रहेगा। रितेश मिश्रा का एक ही उद्देश्य है। गरीबों और जरूरतमंदों को रोटी पहुंचाई जाए। इस कार्य को करने में उनका लगभग 30,000 रुपये प्रतिदिन लगता है। जब संवाददाता ने उनसे पूछा कि, इसकी प्रेरणा आपको कहां से मिलती है, तो उन्होंने बताया कि, वह ना मस्जिद जानता है न शिवाला जानता है ,भूखा पेट केवल निवाला जानता है।


मदद नहीं कर सकते,मजाक मत करो

नोमान का आरोप : गरीब लोग राशन लेकर दुकानों पर बेच रहे है ,नाहिद हसन का हमला मदद नही कर सकते तो ग़रीबों का मज़ाक़ मत उड़ाओ         
सहारनपुर। गंगोह विधानसभा सीट से कांग्रेस के प्रत्याशी रहे नोमान मसूद ने गंगोह कोतवाली में आयोजित एक मीटिंग में सार्वजनिक रूप से यह आरोप गरीब लोगों पर लगाया है कि वह मुफ्त समाजसेवियों से राशन लेकर दुकानों पर बेच रहे हैं । पूर्व चेयरमैन द्वारा दिया गया यह बेतुका बयान देकर गरीब लोगों का मजाक बनाने का काम किया है क्योंकि सहारनपुर आसपास के क्षेत्रों में बड़ी संख्या में ऐसे लोग हैं जो रोजाना की मजदूरी का अपने परिवार का पालन पोषण करते थे लेकिन अब लाकडाउन होने के बाद वह अपने काम पर नहीं जा पा रहे हैं जिसकी वजह से उन लोगों को अपने परिवार को जरूरी सामान उपलब्ध कराने में समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। पूर्व चेयरमैन नोमान मसूद के बयान से लोगों में गुस्सा है वही इस पर समाजवादी पार्टी की कैराना विधायक नाहिद हसन ने प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि जो लोग गरीबों पर यह तोहमत लगा रहे हैं ।कि वह मुफ्त में राशन लेकर बेच रहे हैं ऐसे लोगों को शर्म आनी चाहिए उन्होंने कहा कि अगर आप किसी की मदद नहीं कर सकते तो कम से कम उन लोगों का मजाक भी ना बनाएं वहीं सपा विधायक नाहिद हसन ने कहा कि काजी परिवार ने हमेशा से ही गरीब मजदूर लोगों का अपमान करने का काम किया है हमेशा से ही वह लोगों के हकों पर डाका डालते रहे हैं चाहे वह स्वास्थ्य मंत्री रहते हुए फर्जी तरीके से अपने परिवार के सदस्य का एमबीबीएस में दाखिला कराना हो या ईदगाह पर कब्जा करना हो उन्होंने कहा कि 13 बिघा जमीन से 13000 बिघा जमीन बनाने वालों को शर्म आनी चाहिए कि वह गरीबों की मदद करने के बजाय उनका मजाक बना रहे हैं।आपको बता दें कि गंगोह कोतवाली में एक बैठक का आयोजन किया गया था जिसमें कस्बे के सभी जिम्मेदार लोगों ने हिस्सा लिया था बैठक में मुख्य रूप से एस डी एम पुरण सिंह राणा ,गंगोह कोतवाली प्रभारी भगवत सिंह, सीएचसी प्रभारी प्रमोद कुमार, हाजी सलीम कुरैशी ,गँगोह सेवा समिति के सभी सदस्य समेत कस्बे के सभी धार्मिक स्थलों के जिम्मेदार लोग शामिल हुए।


संक्रमित मिलने पर डीएम ने किया दौरा

सहारनपुर/चिलकाना। चिलकाना के दुमझेड़ा में कोरोना का मरीज पोसिटिव पाए जाने पर सहारनपुर प्रसाशन पूरी तरह अलर्ट पर है इसी के मध्यनजर जिलाधिकारी अखिलेश सिंह ने दुमझेड़ा गांव का दौरा किया और पूरे गांव  को सख्त चेतावनी दी कि कोई भी व्यक्ति गांव से बाहर न जाये वरना कानूनी कार्यवाही की जाएगी।जिलाधिकारी ने कहा कि हमने जिले के सभी लोगो से पहले ही अपील की थी कि जो भी दिल्ली के निजामुद्दीन मरगज में गये थे वह खुद इसकी सूचना पुलिस को  दे दे लेकिन कुछ लोगो ने इसमें लापरवाही बरती हैं।दुमझेड़ा गांव में जो आसाम का व्यक्ति पोसिटिव मिला है वह जहाँ ठहरा जिसके संपर्क में रहा उन पर कानूनी कार्यवाही की जा रही हैं पूरे गांव को सैनिटाइज किया जा रहा हैं इसी के साथ एक गांव ननहेड़ा पड़ता हैं वहां भी यह लोग गए थे उस गांव को भी सैनिटाइज कराया गया और दोनों गांव में पूरी तरह से लोक डाउन रहेगा कोई भी व्यक्ति बाहर नही जा पायेगा।जिलाधिकारी जी के साथ सी एम ओ ,एस डी एम सदर,सी ओ सदर ,पूरी स्वास्थ्य टीम,थाना चिलकाना प्रभारी अमित शर्मा भी मौजूद रहे।


पुलिस की दहशत से एक व्यक्ति का हार्ट फेल, मौत


गंगोह। मोहल्ला सराय निवासी एक व्यक्ति की हार्ट फेल होने के चलते हुई मौत, प्रत्यदर्शियों का कहना है पुलिस की गाड़ी के सायरन की आवाज़ सुन डर के मारे घर की और भागा था उक्त व्यक्ति, हांफते हुए घर के दरवाजे तक पहुंचा, गंभीर अवस्था मे परिजन उसे स्थानीय चिकित्सक लेकर गए, चिकित्सक ने जांच के बाद किया मृत घोषित, अपने घर से कुछ दूर ही रह रही बेटी के यहां से लौट रहा था मृतक, परिजनों में मचा कोहराम।


रिपोर्ट-आलोक तनेजा


पसीने की दुर्गंध पर करें नियंत्रण

पसीने की दुर्गंध खुद को ही नहीं बल्कि दूसरों को भी परेशान करती है। ऑफिस, पार्टी या बाहर खुली हवा में भी शरीर की गंध कहीं न कहीं हमारे व्यक्तित्व की पहचान बन जाती है। कई लोग पसीने की बदबू से छुटकारा पाने के लिए परफ्यूम और डिओड्रेंट पर हजारों रुपए खर्च करते हैं लेकिन आपको बता दें कि पसीने को रोकने का ये गलत तरीका है। 
अगर आप महंगे परफ्यूम लगाते हैं लेकिन अपनी डायट में कुछ खास चीजों को ले रहे हैं तो महंगे से महंगा परफ्यूम भी कुछ नहीं कर सकता है। जी हां, कुछ ऐसे फूड्स हैं जो पसीने की बदबू को बढ़ाते हैं। 
रेड मीट
रेड मीट में अधिक मात्रा में कैलोरी होती है और लाल मांस को पचाना काफी मुश्किल होता है। ये अक्सर हमारे पाचन तंत्र में जाकर ठहर जाता है और जब यह शरीर में सडऩे लगता है तो इससे विषाक्त पदार्थ और बदबूदार गैस रिलीज होती है। इसकी वजह से पेट फूलने लगता है और पसीने से बदबू आने लगती है।
मसालेदार खाना
जी हां, ये बात सच है कि मसालेदार या मिर्च वाली चीजें खाने से शरीर से बदबू आने लगती है। वैसे तो लाल मिर्च मेटाबोलिज्म को तेज करती है लेकिन इससे त्वचा के रोमछिद्रों पर जो गैस रिलीज होती है उससे पसीने से बदबू की समस्या पैदा होगी। ये बदबू शरीर पर कई घंटों तक रहती है। 
लहसुन
लहसुन में कई औषधीय गुण होते हैं लेकिन ये आपके शरीर से दुर्गंध आने का कारण भी हो सकता है। जब लहसुन में मौजूद सल्फर यौगिक एलिसिन एलिन में टूटकर त्वचा के रोमछिद्रों से बाहर आता है तो इससे शरीर से दुर्गंध आने लगती है।
प्याज
प्याज से भी शरीर से दुर्गंध आने लगती है। प्याज में कैसेले तेल होते हैं और प्याज का सेवन करने पर ये तेल रक्त वाहिकाओं में जाकर फेफड़ों में पहुंच जाते हैं। इसके कारण पसीने की दुर्गंध बढ़ सकती है। इसलिए कच्ची प्याज खाने से बचना चाहिए।
कॉफी
कॉफी में एसिड की मात्रा बहुत ज्यादा होती है इसलिए कॉफी पीने से भी आपके शरीर से बदबू आ सकती है। एक कप गर्म कॉफी पीने के बाद लौंग या पुदीना खा लें। इससे कॉफी का नकारात्मक असर कम हो जाता है।
शराब
इस बात के कई प्रमाण मिले हैं कि ज्यादा शराब पीने से मुंह में गुड बैक्टीरिया कम बनता है। इसकी वजह से मुंह से बदबू आने लगती है और दांतों से जुड़ी कई बीमारियां पनपने लगती हैं। हमारा शरीर एल्कोहल को एसिटेट के रूप में पचाता है। आप जितनी ज्यादा शराब पीएंगे, शरीर में उतना ही एसिटेट बनेगा।। एसिटेट की वजह से पसीने से बदबू आने लगती है।
अब अगर आप भी उन लोगों में से एक हैं जो पसीने से बदबू आने की समस्या से परेशान हैं तो सबसे पहले तो ऊपर बताई गई चीजों को अपने आहार से निकाल दें। इन खाद्य पदार्थों में मौजूद तत्व आपके लिए मुश्किलें पैदा हो सकती हैं। हालांकि, कम मात्रा में इनका सेवन किया जा सकता है। लहसुन और प्याज को कच्चा खाने की बजाय खाने में पकाकर ले सकते हैं।


केवल 'बल्ब-लाइट' ही बंद करेंः विभाग

नई दिल्ली। देश में छाए कोरोना संक्रमण के मध्य प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अपील पर कल पांच अपै्रल को लोगों द्वारा 9 मिनट के लिए विद्युत सेवा न लेते हुए दीपक जलाकर रौशनी की जाएगी। इसी क्रम में सीएसपीडीसीएल ने भी प्रदेशवासियों से अपील की है कि वे अपने-अपने घरों की लाईटें बंद कर इस मुहिम में शामिल हों। 


हालांकि विद्युत विभाग के इंजीनियरों ने बताया कि इस दौरान लोगों को केवल लाईटें बंद करने के लिए प्रोत्साहित किया जा रहा है। विद्युत से चलने वाले अन्य उपकरणों के प्रयोग पर कोई आपत्ति नहीं है, केवल घरों की लाईटें बंद करना ही पर्याप्त है। ज्ञात हो कि पीएम श्री मोदी ने कल 5 अपै्रल को रात 9 बजे देशवासियों से अपने-अपने घरों की लाईटें 9 मिनट के लिए बंद करने और नौ दीपक जलाने का आव्हान किया है। इसके पीछे का उद्देश्य यह है कि इससे लोगों को इस मुसीबत से निपटने के लिए हौसला मिलेगा, प्रत्येक व्यक्ति के अंदर यह भावना जागृत होगी कि संकट की इस घड़ी में वह अकेला नहीं बल्कि पूरा देश उसके साथ है। विद्युत विभाग ने भी इस पहल पर लोगों से अपील की है कि वे कल रात 9 बजे केवल अपने-अपने घरों की लाईटें, बल्ब आदि ही बंद करें, अन्य विद्युतचलित उपकरणों के प्रयोग पर कोई पाबंदी नहीं है।


1480 की मौत, 2.7 लाख संक्रमित

मनोज सिंह ठाकुर


वाशिंगटन। दुनियाभर में कोरोना इस समय कहर बन कर बरस रहा है। इटली और स्पेन के बाद इसका सबसे ज्यादा प्रभाव अमेरिका पर देखने को मिल रहा है। अमेरिकी की खौफनाक स्थिति का पता इस बात से चलता है कि 24 घंटे में यहां 1480 लोगों की मौत हो गई। अमेरिका में एक दिन में इतनी ज्यादा मौतों का ये अभी तक का सबसे बड़ा आंकड़ा है। जॉन्स हॉप्किंस विश्वविद्यालय के ट्रैकर ने यह आंकड़ें दिए हैं। उनके अनुसार, अमेरिका में दो लाख 77 हजार से ज्यादा संक्रमित मरीज हैं, जबकि सात हजार से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है।
ताजा आंकड़े बताते हैं कि अमेरिका में कोरोना वायरस से पौने तीन लाख से ज्यादा लोग संक्रमित हैं। जबकि अब तक 7406 लोगों की मौत हो चुकी है। संक्रमित लोगों और मौत का आंंकड़ा भी यहां लगातार बढ़ रहा है। अमेरिका में संक्रमित और मौत की संख्या अन्य कई देशों के मुकाबले में बहुत ज्यादा है। इतनी बड़ी संख्या में संक्रमित मरीजों और मौत के बावजूद ट्रंप ने अभी तक अमेरिका में लॉकडाउन की घोषणा नहीं की है। हालांकि सरकार ने लोगों को घर में रहने का आदेश जारी किया है। 
अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (सीडीसी) ने अपनी सिफारिश में कहा है कि अमेरिकियों को कोविड-19 से बचाने के लिए कपड़े से बने मास्क को पहनना चाहिए। व्हाइट हाउस में एक प्रेस ब्रिफिंग के दौरान राष्ट्रपति ट्रंप ने कहा, सीडीसी ने अपनी सिफारिश में कहा कि वॉलंटरी हेल्थ मेजर्स के रूप में नॉन-मेडिकल क्लॉथ (कपड़े) का इस्तेमाल किया जाए। यह वॉलंटरी है, उन्होंने कुछ समय के लिए इसकी सिफारिश की है। हालांकि, ट्रंप ने स्पष्ट किया कि वह खुद मास्क नहीं पहनेंगे।


14 राज्यों में जमात के 647 संक्रमित

नई दिल्ली। स्वास्थ्य मंत्रालय ने शुक्रवार को बताया कि पिछले दिनों दिल्ली स्थित निजामुद्दीन इलाके में तबलीगी जमात के धार्मिक आयोजन में हिस्सा लेने वालों में से अब तक कुल 647 लोगों में कोरोना वायरस (Corona virus) संक्रमण की पुष्टि हो चुकी है। ये लोग 14 राज्यों के हैं।
स्वास्थ्य मंत्रालय में संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने बताया कि पिछले दो दिनों में तबलीगी जमात के 647 लोगों में कोरोना के संक्रमण की पुष्टि हो चुकी है। ये लोग असम, अंडमान निकोबार, दिल्ली, जम्मू कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, हरियाणा, झारखंड, कर्नाटक, महाराष्ट्र, राजस्थान, तमिलनाडु, तेलंगाना, उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश से हैं।
उन्होंने बताया कि देश में कोरोना के संक्रमण के अब तक 2301 मामले सामने आ चुके हैं। इनमें से 56 मरीजों की मौत हई और 156 मरीजों को इलाज के बाद स्वस्थ होने पर अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। अग्रवाल ने बताया कि पिछले 24 घंटों में 12 मरीजों की मौत हुई है।
उन्होंने कोरोना के संक्रमण की श्रृंखला को तोड़ने के लिए लागू देशव्यापी बंद (लॉकडाउन) को कारगर उपाय बताते हुए कहा कि संक्रमण के मामलों में जो बढ़ोतरी पिछले कुछ दिनों में हुई है, उसका मुख्य कारण एक खास घटना रही।
अग्रवाल ने कहा कि अगर इस घटना को छोड़ दें तो लॉकडाउन और इस दौरान सामाजिक मेलजोल से दूरी (सोशल डिस्टेंसिंग) के उपायों के कारण नए मामलों की गति में इजाफा नहीं हो रहा था।
अग्रवाल ने देशवासियों से अपील की कि हम सभी को यह समझना होगा कि हम एक संक्रामक बीमारी से जूझ रहे हैं, ऐसे में इससे निपटने के उपायों का पालन में करने में मामूली सी चूक हमारे सारे प्रयासों को व्यर्थ साबित कर देती है।


51 अस्पताल 5 प्रयोगशाला होगी तैयार

नई दिल्ली। भारत में कोरोना वायरस (Corona virus) के संक्रमण के मामलों में वृद्धि के बीच कोविड-19 के मरीजों के उपचार के लिए सशस्त्र बलों के 51 अस्पतालों को तैयार किया जा रहा है।सैन्य अधिकारियों ने कहा कि कोरोना वायरस के संक्रमण के संदिग्ध मामलों की जांच के लिए सेनाओं की 5 प्रयोगशालाओं को राष्ट्रीय स्तर पर स्थापित जांच केंद्रों से जोड़ा गया है।


इनमें दिल्ली स्थित आर्मी अस्पताल (रिसर्च एन्ड रेफरल), बेंगलुरु स्थित वायुसेना कमान अस्पताल, पुणे स्थित सशस्त्र बल चिकित्सा महाविद्यालय (एएफएमसी), लखनऊ स्थित कमान अस्पताल और उधमपुर स्थित कमान अस्पताल शामिल हैं। इसके अलावा 6 और अस्पतालों को उपकरण और अन्य सुविधाओं सहित कोविड-19 की जांच करने के लिए तैयार किया जा रहा है।


रक्षा मंत्रालय के एक प्रवक्ता ने कहा, देशभर में सशस्त्र सेनाओं के 51 अस्पतालों में गहन चिकित्सा कक्ष और कोविड-19 की जांच के लिए विशेष केंद्र बनाए जा रहे हैं। वर्तमान में सशस्त्र बलों द्वारा मुंबई में 6 पृथक-वास संचालित किए जा रहे हैं।


रायपुर में 48 घंटे का कर्फ्यू लागू

रायपुर। देश सहित छत्तीसगढ़ में 14 अप्रैल तक जारी लॉकडाउन के बीच अब अगले 48 घंटे राजधानी रायपुर में कर्फ्यू रहेगा। शनिवार शाम 4 बजे के बाद से यह कर्फ्यू लागू हो जाएगा। इसे लेकर जिला प्रशासन ने सख्त चेतावनी दी है। शनिवार को कई स्थानों पर पुलिस की ओर से फ्लैग मार्च किया गया है। घर से बेवज़ह निकलने वाले लोग पकड़े गए, तो उन्हें सीधे जेल का रास्ता दिखाया जाएगा।


प्रशासन के अनुसार इस दौरान बहुत ही अधिक जरूरी सेवा को खुला रखा जाएगा। इसमें पूरी तरह से जांच-पड़ताल के बाद लोगों को जरूरी सेवाओं के लिए निकलने दिया जाएगा। जरुरी सेवाओं को यथावत जारी रखा गया है। जानकारी के अनुसार जिला प्रशासन रायपुर की ओर से यह फैसला इसलिए लिया गया है क्योंकि लॉकडाउन का लोग कड़ाई से पालन नहीं कर रहे हैं। जरूरी सेवाओं के बहाने लोग घरो से तफरी करने सड़क पर निकल रहे हैं। जिसके कारण शहर में अचानक ट्रैफिक बढ़ गया है। लिहाजा कोरोना वायरस से बचाव के लिए सख्ती बेहद जरूरी है। ऐसे में लोगों को सावधान रहने को कहा गया है। इस दौरान अगर किसी ने भी  लापरवाही बरती, मनमानी करते हुए दिखे तो फिर उन पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी।


लॉक डाउन को बढ़ाया जा सकता है

नई दिल्ली। अमेरिकन कंसल्टिंग फर्म बोस्टन कंसल्टिंग ग्रुप (BCG) की एक नई रिपोर्ट के मुताबिक कोरोना वायरस (Coronavirus) को देखते हुए इंडिया में लागू किए गए लॉकडाउन को सितंबर के मध्य तक बढ़ाया जा सकता है। मनीकंट्रोल में प्रकाशित BCG की रिपोर्ट के हवाले से बताया गया कि भारत जून के चौथे सप्ताह और सितंबर के दूसरे सप्ताह के बीच देशव्यापी लॉकडाउन को हटाना शुरू करेगा।


अध्ययन में बताया गया है कि प्रतिबंध हटाने में देरी देश के स्वास्थ्य सेवा क्षेत्र की तैयारी और सार्वजनिक नीति प्रभावशीलता के रिकॉर्ड के कारण उत्पन्न चुनौतियों का परिणाम हो सकती है। रिपोर्ट में आशंका जताई गई है कि भारत में जून के तीसरे सप्ताह तक COVID-19 के संक्रमण के मामले बढ़ सकते हैं। अमेरिकन कंसल्टेंसी फर्म बीसीजी की रिपोर्ट कोरोना वायरस महामारी पर रोकथाम के उपायों पर केंद्रित है। यह रिपोर्ट 25 मार्च तक के अनुमानों पर तैयार की गई है, जो जॉन हॉपकिंस विश्वविद्यालय के डेटा का पूर्वानुमान लगाने वाली मॉडलिंग पर आधारित है।


रिपोर्ट में देश की स्थिति, यह पूरी तरह से लॉकडाउन है या नहीं, संभावित लॉकडाउन की शुरुआती तारीख, संबंधित देशों के लिए पीक डेट्स और लॉकडाउन के खत्म होने की तारीख सरीखे मानकों पर COVID-19 से संबंधित लॉकडाउन के खत्म होने की अनुमानित तारीखें बताई गई हैं। नरेंद्र मोदी की सरकार ने 24 मार्च को यूनाइटेड किंगडम, पोलैंड और कोलंबिया जैसे अन्य देशों द्वारा लगाए गए प्रतिबंधों के अनुसार लॉकडाउन की घोषणा की. देश में 3 अप्रैल तक, कोरोनोवायरस के मामलों की संख्या 2,300 का आंकड़ा पार कर गई, जबकि मरने वालों की संख्या 62 थी।


दिल्ली में 91 नए केसो ने बढ़ाई चिंता

दिल्ली में पिछले 24 घंटे में कोरोना के 91 नए केस: केजरीवाल
नई दिल्ली। ‘कोरोना से दिल्ली में अब तक 5 लोगों की मौत’
दिल्ली में कोरोना वायरस के मामलों में हर रोज तेजी से इजाफा हो रहा है। 24 घंटे में 91 केस सामने आए हैं, जिसके बाद यहां पर कोरोना के 384 केस हो गए हैं। 91 नए मामलों में 77 वो हैं जो तबलीगी जमात के मरकज में पहुंचे थे। ये जानकारी दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शुक्रवार को दी।


उन्होंने बताया कि 384 में से 58 मरीज विदेश यात्रा वाले हैं। इनमें से बहुत से दिल्ली के भी नहीं हैं. 259 वो हैं जो मरकज में पहुंचे थे। वहीं, अब तक 5 लोगों की कोरोना से मौत हो चुकी है। ये काफी चिंताजनक लगता है। बता दें इससे पहले गुरुवार को दिल्ली में कोरोना के मरीजों की संख्या 293 थी। अरविंद केजरीवाल ने कहा अच्छी बात है कि दिल्ली में कोरोना फैलना शुरू नहीं हुआ। हम सबने मिलकर इसे रोका हुआ है। उन्होंने कहा कि लॉकडाउन का पालन जरूरी है।


‘7 किलो राशन दे रहे’


दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने बताया कि हम 71 लाख राशन कार्ड वालों को साढ़े 7 किलो राशन दे रहे हैं। 60 फीसदी लोगों को मिल चुका है, जिनके पास कार्ड नहीं है। हम उनको भी अगले कुछ दिन में दे देंगे। वहीं, उन्होंने आगे बताया कि 8 लाख विधवा, बुजुर्ग, विकलांगों को 5-5 हजार रुपये दे रहे हैं। कंस्ट्रक्शन वर्कर्स और ड्राइवर्स को राहत के पैसे दे रहे हैं। गरीबों के लिए 1780 सेंटर्स खोले गए हैं, जहां लंच डिनर दिए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि गुरुवार को 6,52,850 लोगों ने लंच किया और करीब 6 लाख 30 हजार ने डिनर किया।


प्रिंस चार्ल्स ने मंत्री के दावे को नकारा

प्रिंस चार्ल्स ने केंद्रीय मंत्री के दावे को झूठा बताया, कहा - आयुर्वेद से नहीं हुआ ठीक


नई दिल्ली। केंद्रीय आयुष राज्य मंत्री श्रीपद नाइक ने हाल ही में दावा किया था कि ब्रिटिश राजघराने के प्रिंस चार्ल्स आयुर्वेद की मदद से कोरोनावायरस से उबरने में सफल हुए। हालांकि, प्रिंस चार्ल्स की प्रवक्ता ने उनके इस दावे को नकारते हुए कहा है कि चार्ल्स ने सिर्फ ब्रिटिश नेशनल हेल्थ सर्विस (एनएचएस) की चिकित्सीय सलाह मानी और कुछ नहीं।


प्रिंस चार्ल्स की प्रवक्ता एला लिंच ने द इंडियन एक्सप्रेस को भेजे मेले में कहा कि प्रिंस चार्ल्स के आयुर्वेद से ठीक होने की जानकारी गलत है। दरअसल, नाइक ने गुरुवार को गोवा में प्रेस ब्रीफिंग के दौरान कहा था कि प्रिंस चार्ल्स का ठीक होना सिर्फ हमारी हजारों सालों पुरानी पद्धति की वैधता दर्शाती है। नाइक ने कहा था कि वे यह विश्वास से कह सकते हैं, क्योंकि बेंगलुरु में आयुर्वेद का रिसॉर्ट चलाने वाले एक डॉक्टर ने उनसे बात की है।


नाइक ने कॉन्फ्रेंस में कहा था- "मुझे बेंगलुरु में सौक्य आयुर्वेद रिसॉर्ट चलाने वाले डॉक्टर आइजैक मथई का फोन आया था। उन्होंने मुझे बताया कि उनके द्वारा आयुर्वेद और होम्योपैथी के जरिए किया गया प्रिंस चार्ल्स का इलाज सफल रहा। यह सिर्फ एक उदाहरण है कि हमारा सिस्टम कैसे काम करता है।"


गोवा के ही रहने वाले नाइक ने इस मौके पर सरकार की तरफ से कोरोनावायरस को रोकने के लिए उठाए गए कदमों की तरफ भी की थी। उन्होंने कहा था कि भारत वायरस का फैलाव नियंत्रित करने में सफल रहने वाला पला देश है।


गौरतलब है कि गुरुवार को ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी प्रिंस चार्ल्स से फोन पर बात की थी। पीएम ने प्रिंस को खुद ही संक्रमण से उबरने पर बधाई देते हुए उन्हें बेहतर स्वास्थ्य की शुभकामनाएं दी थीं। विदेश मंत्रालय ने इसके बाद बयान जारी कर कहा था कि प्रधानमंत्री ने प्रिंस को उनकी आयुर्वेद में रुचि के लिए शुक्रिया कहा। मोदी ने प्रिंस को योगा वीडियो के जरिए इम्युनिटी बढ़ाने की भी जानकारी दी थी। प्रिंस ने भी स्वास्थ्य और प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाले इन तरीकों की तारीफ की थी। उन्होंने एनएचएस में सेवा दे रहे भारतीय मूल के लोगों की भी तारीफ की थी।


नोएडा में बना अत्याधुनिक कंट्रोल रूम

कोरोना की दहशत के बीच नोएडा में बना 'कंट्रोल प्लान', इस नंबर पर दें जानकारी 


गौतम बुध नगर। भारत में कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है। उत्तर प्रदेश के नोएडा में इसके ढेरों मामले सामने आए हैं। इसे देखते हुए नोएडा में एक अत्याधुनिक कंट्रोल रूम स्थापित किया गया है।


स्थापित किया गया कंट्रोल रूमः नोएडा में कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या 50 पहुंच चुकी है। यहां पर वायरस से बढ़ते संक्रमण के मामलों पर लगाम लगाने के लिए अहम निर्णय लिया गया है। जिला प्रशासन की ओर से गौतमबुद्ध नगर के रहने वाले लोगों के लिए अत्याधुनिक एकीकृत कंट्रोल रूम स्थापित किया गया है। यही नहीं, कंट्रोल रूम में अहम यह भी है कि यहां कई कॉल एकसाथ की जा सकती हैं। इस कंट्रोल रूम को कॉल सेंटर के साथ-साथ सरकारी अधिकारियों के जरिए संचालित किया जा रहा है। कंट्रोल रूम का टोल फ्री नंबर: 1800 419 2211 है। डीएम सुहास कहते हैं कि यह कंट्रोल रूम 'ऑल इन वन' मॉडल पर आधारित है, जिसके माध्यम से जिला प्रशासन, स्वास्थ्य विभाग, पुलिस विभाग, नोएडा अथॉरिटी, ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी की कोरोना वायरस और अन्य समस्याओं का निस्तारण किया जाएगा। 


नियुक्त किए गए हैं डॉक्टर्सः इस कंट्रोल रूम में आधुनिक सुविधाओं के साथ-साथ कुछ डॉक्टर्स भी नियुक्त किए जाएंगे, जिन्हें कोरोना से संबंधित अहम जानकारियां हों। इस कंट्रोल रूम का नोडल अधिकारी गौतमबुद्ध नगर के अपर जिलाधिकारी बलराम सिंह को बनाया गया है।


जिला मथुरा में नहीं होगी कालाबाजारी

मथुरा। मथुरा ब्रज यातायात एवं पर्यावरण जन जागरूकता समिति रजि उत्तर प्रदेश के प्रदेश अध्यक्ष  विनोद दीक्षित के द्वारा मथुरा के जिलाधिकारी से कालाबाजारी को लेकर शिकायत किए जाने के बाद जिला प्रशासन आया हरकत में बुलाई गई आपातकालीन बैठक मथुरा के जिलाधिकारी सर्वज्ञराम मिश्र ने कलेक्ट्रेट के सभागार में अधिकारियों की बैठक लेते हुए निर्देश दिये कि जिन 06 टीमों को काला बाजारी रोकने के लिए लगाया गया है वह मुस्तैदी से अपने कार्यों को पूरा करते हुए कृत कार्यवाही से उन्हें अवगत करायेें। उन्होंने कहा कि जो दुकानदार काला बाजारी में लिप्त पाये जायें उनके विरूद्ध सुसंगत धाराओं में एफआईआर दर्ज करायी जाये। जिलाधिकारी  सर्वज्ञराम मिश्र ने बताया कि जनपद लागू धारा 144 में आंशिक संशोधन किया गया है, अब 05 व्यक्तियों के स्थान पर केवल 02 ही व्यक्ति एक स्थान पर रूक सकते हैं। उन्होंने दुकानदारों से कहा कि आवश्यक वस्तुओं को वितरित करते समय सोशल डिस्टेंश का विशेष ध्यान रखा जाये।जिलाधिकारी ने जनपद के सभी अधिकारियों को निर्देशित किया है कि होम डिलीवरी पर केन्द्रित होकर लोगों में आवश्यक वस्तुओं का वितरण करवायें, इसके लिए क्षेत्रबार टीमें बना ली जायें, व्यक्तियों को आवश्यकतानुसार सामान उपलब्ध करायें। उन्होंने कहा कि प्रशासन द्वारा होम डिलीवरी का पूरी प्लान तैयार किया जा चुका है, यथाशीघ्र उसे क्रियान्वित कर दिया जायेगा।


डीएम ने निर्देश दिये हैं कि एक ही स्थान पर सब्जी मण्डी लगने के कारण लोग अधिक संख्या में एक स्थान पर एकत्रित हो जाते हैं। सोशल डिस्टेंश को दृष्टिगत रखते हुए क्षेत्रबार ढकेलों द्वारा सब्जियों की आपूर्ति की जायेगी। उन्होंने निर्देश दिये कि आवश्यक वस्तुओं से संबंधित सामान एवं खाद्यान्नों से लदी हुई गाड़ियों को किसी भी दशा में नहीं रोकी जायेंगी। उन्होंने जनपद स्तरीय एवं अन्य जनपद व अन्य राज्यों में जाने वाली गाड़ियों के पास नगर मजिस्ट्रेट द्वारा पास जारी करने के निर्देश दिये। उन्होंने तहसील क्षेत्र में आवश्यक वस्तुओं के लिए पास जारी करने के लिए उप जिलाधिकारी को अधिकृत किया है। जिलाधिकारी ने निर्देश दिये कि बन्दर एवं अन्य जानवरों को भोजन देने वाले वाहनों एवं चारा ले जाने वाली गाड़ियों को नहीं रोका जायेगा। उन्होंने कहा कि भिखारियों को रैन बसेरों में रखा जायेगा तथा उनको उसी में भोजन के पैकेट भी उपलब्ध कराये जायेंगे।


उन्होंने कहा कि अस्पतालों में बीमारों के तमीरदारों को भी भोजन उपलब्ध कराने हेतु स्वयं सेवी संस्थाओं द्वारा व्यवस्था की जा रही है,जिसको प्रशासन द्वारा वितरित कराया जायेगा। बैठक में वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक डा0 गौरव ग्रोवर ने बताया कि खाद्यान्न सामग्री एवं आवश्यक वस्तुओं के लाने एवं लेजाने तथा काला बाजारी की शिकायत पुलिस कन्ट्रोल रूम 7839003402 पर सूचना दी जा सकती है। उन्होंने कहा कि एक स्थान पर अधिक लोग एकत्रित न हों और बिना किसी कारण बाहर न निकलें। वेबजह बाहर घूमने वाले व्यक्तियों के विरूद्ध कार्यवाही की जायेगी। बैठक में नगर आयुक्त रविन्द्र कुमार मांदड ने होम डिलीवरी सप्लाई की पूरी योजना को बताया। उन्होंने बताया कि क्षेत्रबार दुकानें चिन्हित की जा रही हैं, जो व्यक्तियों को फोन पर बतायी गई आवश्यक सामग्रियों को उनके घर तक पहुॅचायेंगे। उन्होंने बताया कि ईजीडे, वीमार्ट, बिग बाजार के कर्मचारियों द्वारा उनकी मांग पर तथा स्थानीय दुकानदारों से मांग पर सामान उपलब्ध कराने के लिए पार्षद के क्षेत्रबार 20-20 टीमें गठित कर ली गई हैं, जो डोर टू डोर सामान पहुॅचायेंगी। उन्होंने बताया कि प्रातः 07 से 11 बजे तक आवश्यक वस्तुओं की दुकानें खुलेंगी तथा थोक मण्डी का समय प्रातः 04 से 07 बजे तक रहेगा। अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व बृजेश कुमार ने बताया कि कोरोना वायरस से संबंधित कन्ट्रोल रूम के फोन नम्बर-0565 -2471914, 2970373 एवं 2970374 के नम्बरों पर केवल कोरोना वायरस से प्रभावित लोगों की सूचना दे सकते हैं तथा काला बाजारी से संबंधित सूचनायें जिला प्रशासन नागरिक सुरक्षा कलेक्टेªट में बनाये गये कन्ट्रोल रूम नम्बर-0565-2470218 पर दें। इस अवसर पर अपर जिलाधिकारी प्रशासन सतीश कुमार त्रिपाठी, नगर मजिस्ट्रेट मनोज कुमार सिंह, पुलिस अधीक्षक नगर अशोक कुमार मीणा सहित अन्य संबंधित विभागों के अधिकारीगण उपस्थित रहे।


66 करोड की खादी के मास्क बनेंगे

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में मास्क की कमी को पूरा करने के लिए योगी सरकार 23 करोड़ जनता के लिए 66 करोड़ खादी के ट्रिपल लेयर स्पेशल मास्क बनाने की योजना पर विचार कर रही है। जानकारी के अनुसार यूपी सरकार ये स्पे़शल मास्क ग़रीबों को फ्री देगी। बाक़ी लोगों को बेहद सस्ते दामों पर मिलेगा।


माना जा रहा है कि ये कपड़े का रीयूज वाला वाशेबल मास्क होगा। इसके तहत हर नागरिक को दो-दो मास्क दिए जाएंगे। तैयारी है कि अगर लाक डाउन समाप्त होता है तो एपेडमिक एक्ट के तहत सबको ये मास्क पहनना होगा। बिना मास्क के घर के बाहर निकलने की बिल्कुल अनुमति नहीं होगी।


जमात में गए हरियाणा के 13 संक्रमित

राणा ओबराय


चंडीगढ़। हरियाणा में कम से कम 13 लोगों के कोविड-19 से संक्रमित होने की पुष्टि हुई है। यह सभी लोग मार्च महीने में दिल्ली के निजामुद्दीन के पास स्थित मरकज में तब्लीगी जमात में शामिल हुए थे। अधिकारियों ने शुक्रवार को इस बात की जानकारी दी। सभी मामले पलवल जिले के है, जिसमें से अधिकांश बांग्लादेशी नागरिक हैं।


जिले में अभी तक सामने आए 17 मामलों में से 16 में मरीजों ने निजामुद्दीन मरकज में शिरकत की थी। पलवल के मुख्य चिकित्सा अधिकारी ब्रह्मदीप सिंह ने मीडिया से कहा, “जमात से आए कुल 88 लोगों के नमूनों की जांच की गई, जिनमें से 13 के कोविड-19 से संक्रमित होने की पुष्टि हुई है।”


एक दिन पहले अतिरिक्त मुख्य सचिव (गृह) विजई वर्धन ने कहा कि कार्यक्रम में भाग लेने वाले 107 विदेशियों को राज्य में लौटने के बाद से क्वारंटाइन किया गया है। उन्होंने जानकारी देते हुए कहा कि सभी पर्यटक वीजा पर भारत आए और उनके खिलाफ पलवल, फरीदाबाद, पानीपत, अंबाला और नूंह में प्राथमिकी (एफआईआर) दर्ज की गई है।


योगी ने मायावती को धन्यवाद कहा

लखनऊ। कोरोना वायरस के बढ़ते कहर को देखते हुए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शनि‍वार को लखनऊ में आला अफसरों के साथ समीझा बैठक की। इस दौरान सीएम योगी आदित्यनाथ ने बसपा सुप्रीमो मायावती को कोरोना वायरस के खिलाफ अभियान में सहयोग करने के लिए धन्यवाद दिया है। उत्तर प्रदेश की पूर्व सीएम और बसपा सुप्रीमो मायावती ने पार्टी विधायकों से जरूरतमंदों की मदद के लिए अपनें अपनें विधायक निधि से 1-1 करोड़ रुपये देने को कहा है। इसके साथ ही अपने जरूरतमंद पड़ोसियों की भी हर संभव मदद करने को भी कहा है।


बसपा सुप्रीमो ने शुक्रवार को ट्वीट कर देशभर में कोरोना वायरस की महामारी के मद्देनजर खासकर यूपी के बसपा विधायकों से भी खास अपील की कि वे आपदा की इस घड़ी में सरकार का सहयोग करें व सरकारी निर्देशों का अनुपालन करें। मायावती ने एक अन्य ट्वीट में कहा, 'केन्द्र सरकार से भी अपील है कि विश्व बैंक से मिले 100 करोड़ डालर की कोरोना सहायता को विशेषकर स्वास्थ्य सुविधाओं को बढ़ाने में उचित इस्तेमाल करे ताकि कोरोना के बढ़ते प्रकोप को रोका जा सके। जनता से भी अपील है कि वे आपदा की इस घड़ी में सरकार का हर संभव सहयोग करें।'


जरूरतमंदों को किया राशन वितरण

कुसमुंडा। लॉक डाउन के दौरान कोविड 19 कोरोना वायरस के संक्रमण से बचने लोगो को घर से निकलने में मनाही है। वही इस वजह से रोजी मजदूरी कर प्रतिदिन अपना पेट भरने वालो के सामने खाने पीने की समस्या उत्पन्न होने लगी है, हालांकि सरकार, जनप्रतिनिधि व कई सामाजिक संग़ठन ऐसे अनेको परिवारों की मदद कर रहे हैं, बावजूद इसके अधिकांश परिवार इस मदद से छूट जा रहे है। ऐसे में क्षेत्र में पेट्रोलिंग के दौरान कई गरीब परिवार की जानकारी कुसमुण्डा थाना प्रभारी राकेश मिश्रा को मिली, उन्होंने ततकाल ऐसे परिवारों की सूची बनवाई और उनको राशन पैकेट मुहैया कराया, इस राशन के पैकेट में 5 किलो साफ चांवल, आधा किलो दाल, आधा किलो रिफाइन तेल, डेढ़ किलो आलू, आधा किलो प्याज,1 पाव सोयाबीन बड़ी,100-100 ग्राम मिर्ची, मसाला, हल्दी शामिल है।
हमने ऐसे ही बिरदा निवासी एक मजदूर रामनारायन रात्रे से बात की उन्होंने बताया कि वे 3 से 4 दिन में थाना प्रभारी से सम्पर्क करते है और इस राशन के पैकेट को ले जाते है, उनका कहना था कि इस बन्द में भीख मांगने की नोबत आ गयी थी, ऐसे में थाना प्रभारी द्वारा राशन बांटने से उनके परिवार का दो वक्त के भोजन का इंतजाम हो गया है।
थाना प्रभारी श्री मिश्रा ने बताया कि वे प्रतिवर्ष नवरात्रि पर्व पर थाना परिसर में ही स्थित मन्दिर प्रांगण में विशाल भंडारे का आयोजन किया जाता है, मौजूदा हालात को देखते हुए ऐसा मुमकिन नही हो सका, ऐसे में इन मजदूरों की जानकारी हुई इसलिए भंडारे में लगने वाली राशि का उपयोग अब गरीब मजदूर परिवारो जरूरी राशन मुहैया कराने में लगाया जा रहा है, अभी तक करीब 700 पैकेट का वितरण किया जा चुका है,जिसका वितरण आगे भी चालू रहेगा।
आपको बता दें जिलेभर में अनेको लोग अपने अपने तरीको से जरूरतमंदों की मदद कर रहे है, ऐसे में थाना प्रभारी द्वारा समाज के इस मेहनती वर्ग का मदद करना अत्यंत ही सराहनीय कार्य है।


भूपेश टांडिया


सत्संग के नाम पर अस्मत से खिलवाड़

शाहजहांपुर। हमारे भारत देश में पाखंडी बाबाओं की भरपूर बहार है। हर एक महिने कोई ना कोई नया बाबा अपनी करतूतों के चलते मीडिया की ख़बरों में छा जाता है। कोई प्रवचन देकर लोगों से ठगी करता है, तो कोई मोक्ष दिलाने के नाम पर लोगों को बेवकूफ बनाता है। ऐसे बाबाओं की भी कमी नहीं है, जो केवल महिलाओं का उद्धार करने में विश्वास रखते हैं। उनकी इज्जत और आबरू से खेलते हैं। लेकिन जिस बाबा के बारे में हम आपको बताने जा रहे हैं, वो बाबा शादियों का शौकीन है। वो दूसरों की नहीं बल्कि खुद की शादियां करने में यकीन करता है। पर शादी के बाद बाबा अपनी पत्नियों को जिस्मफरोशी के लिए मजबूर करता है।


Must Read: इस ग्राम सभा मे प्रारंभ हुआ सेनेटाइजेशन का कार्य, ग्राम प्रधान ने की क्वारंटाइन सेंटर पर भोजन की व्यवस्था


बाबाओं के बाजार में इस नए साधु का नाम है स्वामी अनुज चेतन सरस्वती। इस पर आरोप है कि बाबा ने एक नहीं दो नहीं बल्कि पांच-पांच शादियां की हैं। पहले ये बाबा महिलाओं को सत्संग के नाम पर भक्त बनाकर अपने जाल में फंसाता है। फिर प्रेम लीला करता है। अंत में उस महिला भक्त से शादी करके उसका उद्धार करने का दावा करता है। लेकिन उद्दार के नाम पर ये ढोंगी बाबा अपनी पत्नी को नशे का इंजेक्शन लगाता है और फिर उसे देह व्यापार में काले धन्धे मे झोंक देता है। इस अय्याश बाबा की करतूत खुद इसका शिकार बनी महिलाओं ने बताई. साधु के नाम पर शैतान बने इस बाबा की करतूत सुनकर पुलिस भी हैरान है। ढोंगी साधु का श‍िकार बनी मह‍िलाओं ने अब पुल‍िस से इंसाफ की गुहार लगाई है।


पीड़ित महिलाओं ने डीआईजी राजेश कुमार पांडेय से मुलाकात की और फिर बाबा का काला चिठ्ठा उनके सामने खोलकर रख दिया। महिलाओं ने ढोंगी साधु की एक एक करतूत डीआईजी साहब को बताई। डीआईजी राजेश कुमार पांडेय ने मामले को गंभीरता से लेते हुए संबंधित इलाका पुलिस को आरोपी साधु के खिलाफ सख्त कार्रवाई के निर्देश दे दिए हैं। डीआईजी से शिकायत करते हुए महिलाओं ने स्वामी अनुज चेतन सरस्वती पर गंभीर आरोप लगाए हैं। महिलाओं का आरोप है क‍ि अनुज चेतन सरस्वती, साधु के रूप में बाबा नहीं बल्कि वहशी दरिंदा है। वह सत्संग करता है और तंत्र विद्या कर महिलाओं को अपने मायाजाल में फंसा लेता है।


महिलाओं का आरोप है कि इस साधु ने अब तक 5 शादियां की हैं। महिलाओं का आरोप है कि वह महिलाओं को नशीला इंजेक्शन देता है और देह व्यापार करने के लिए मजबूर भी करता है। जो भी महिला उसकी बात नहीं मानती उसको बुरी तरह से मारता-पीटता है और बंधक बनाकर रखता है। पीड़ित महिलाओं का कहना है कि उसकी एक पत्नी आत्महत्या कर चुकी है जबकि बाकी की पत्नियां भी उसे छोड़कर जा चुकी हैं। वहीं, इस मामले में डीआईजी राजेश कुमार पांडेय का कहना है क‍ि शाहजहांपुर की कुछ महिलाएं उनके पास आई थीं। उन्होंने अनुज चेतन सरस्वती नाम के शख्स पर आरोप लगाया है कि उसने 5 शादियां की हैं।


महिलाओं ने कुछ फोटोग्राफ भी दिखाए हैं। जिनके आधार पर लगता है कि आरोपी साधु महिलाओं की अस्मत के साथ खिलवाड़ करता है। डीआईजी का कहना है क‍ि शाहजहांपुर पुलिस को 3 दिन के अंदर इस मामले की जांच कर आरोपी के खिलाफ सख्त कार्रवाई के निर्देश दे दिए गए हैं। आरोपी स्वामी अनुज चेतन सरस्वती, शाहजहांपुर जिले के निगोही थाना क्षेत्र के संगम इंटर कालेज के पास रहता है। अब पुलिस उसका इतिहास खंगालने में जुटी है। जल्द ही शादियों का शौकीन ये बाबा सलाखों के पीछे से सत्संग करेगा।


 (परवेज सागर)


जरूरी सेवाओं को गृह मंत्रालय की छूट

 अनामिका


नई दिल्ली। कोरोना के बढ़ते कहर को कम करने के लिए देश भर में 21 दिनों का लॉकडाउन किया गया है। जिसका आज 11वां दिन है। इसी बीच लॉकडाउन के दौरान हो रही परेशानियों को देखते हुए गृह मंत्रालय ने बड़ा  फैसला लेते हुए कुछ जरूरी सेवाओं के लिए छूट देने का ऐलान किया है। खेती से जुड़ी मशीनों, रिपेयरिंग की दुकान, हाइवे पर ट्रकों की मरम्मत से जुड़ी दुकानों समेत कुछ अन्य सेवाओं पर छूट मिलेगी। गृह मंत्रालय के तरफ से जारी की गई नई एडवाइजरी में  लॉकडाउन में दी जाने वाली छूट की लिस्ट दी गई है।


बता दें कि किसानों को अपनी खड़ी फसल की कटाई के लिए मजदूरों की जरूरत है, लेकिन लॉकडाउन के चलते न तो उनके पास मजदूर हैं और न ही पर्याप्त मशीनें. जिसे देखते हुए गृह मंत्रालय ने खेती से जुड़ी मशीनें, उनके स्पेयर पार्ट्स और रिपेयरिंग से जुड़ी दुकानों को लॉकडाउन के दौरान खुलने की छूट दी है। वहीं इसके साथ ही चाय उद्योग और बगानों को भी लॉकडाउन में छूट दी गई है। नई एडवाइजरी के अनुसार 50 वर्कर्स के साथ चाय उद्योग अपना काम शुरू कर सकता है। केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला ने देश के सभी राज्यों के मुख्य सचिवों को पत्र लिखकर खेती और किसानों को लॉकडाउन के दौरान दी जाने वाली छूट को सुनिश्चित किया है। इसके पीछे का मकसद ये है कि लॉकडाउन को लेकर किसानों को फसलों  से जुड़ी परेशानी का सामना न करना पड़े।


दूसरे राज्यों से बिहार में पहुंचे 1.8 लाख

पटना। दूसरे राज्यों से बिहार आए बिहारियों की आज से फिर स्क्रीनिंग की जाएगी। बाहर से आने वाले लोगों की संख्या 1 लाख 80 हजार है। यह फैसला सरकार ने कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए लिया है। स्क्रीनिंग का काम 6 दिन में पुरा कर लिया जाएगा।
22 मार्च के बाद आने वाले लोगों का होगा स्क्रीनिंग
यह स्क्रीनिंग उनलोगों की होगी जो 22 मार्च के बाद बिहार आए है। सरकार ऐसी किसी भी गुंजाइश को पूरी तरह खत्म कर देना चाहती है जो कोरोनावायरस को कम्युनिटी इंफेक्शन तक विस्तारित करे। ऐसे की खतरे से पहले ही सरकार सतर्क हैं और ऐहतियातन यह जांच कराया जाएगा।
मुंबई से आने वालों की सबसे पहले होगी स्क्रीनिंग
स्क्रीनिंग की शुरूआत आज से होगी। सबसे पहले मुंबई से आने वाले लोगों की होगी। क्योंकि यह हाई रिस्क वाला एरिया है। उसके बाद केरल, तमिलनाडु तथा दिल्ली से आए लोगों की स्क्रीनिंग होगी। मुख्य सचिव ने सभी जिलों के डीएम के साथ दोबारा वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग इसको लेकर निर्देश दिए हैं। बता दें कि लॉकडाइन के बाद दूसरे राज्यों में रहने वाले लाखों बिहार के लोग बिहार आए है। बाहर से आने वालों में दिल्ली, नोएड़ा और गाजियाबाद के लोगों की संख्या अधिक है। जो लॉकडाउन में गाड़ी नहीं मिलने पर पैदल ही चल दिए थे। बाहर से आने वाले लोगों की आने के दौरान ही स्क्रीनिंग हुई थी। लेकिन एक बार भी किया जाएगा।


मनीष कुमार


शर्तों पर खुल सकता है 'लॉक डाउन'

नई दिल्ली/लखनऊ। कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए 14 अप्रैल तक पूरे देश में लॉकडाउन है। बाजार बंद हैं। ट्रेनें, बसें, हवाई जहाज, टैक्सियां कुछ भी नहीं चल रहा। ऐसे में सरकार ने लॉकडाउन खोलने की तैयारियों पर चर्चा शुरू कर दी  है। शुक्रवार को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस संबंध में अधिकारियों के साथ बैठक की। जिसमें कहा गया लॉकडाउन खुलने का मतलब पूरी छूट नहीं होगा। यूपी सरकार 14 अप्रैल के बाद लोकडाउन हटने की सूरत में कई बन्दिशें बरकरार रखेगी। इसका मकसद अफ़रातफ़री को रोकना व सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने का है।
स्कूल कालेज बंद रहेंगे, फंसे लोगों को मिलेगी तरजीह
सूत्रों के मुताबिक, सरकार बेसिक  व माध्यमिक स्कूल व कॉलेज आगे भी एक निश्चित अवधि तक बंद रखेगी लेकिन टेक्निकल व व्यवसायिक कॉलेज खोलने की तैयारी है। लॉकडाउन जब खुलेगा तब पहले उन लोगों को आने जाने में तवज्जों दी जाएगी, जो कई दिनों से इधर उधर फंसे हुए हैं। और घर नहीं जा पा रहे हैं। इसके लिए सीमित दायरे में परिवहन सेवा शुरू होगी।
बाजार व मंडियां खुल सकती हैं, माल रह सकते हैं बंद
बाजार व मंडियों को खोला जाएगा। माल में मल्टीपलेक्स को इस दायरे से बाहर रखने की योजना बन रही है। मुख्यमंत्री का कहना है कि डीएम व एसपी पहले लॉक डाउन हटाने के बाद के हालात का आकलन अभी कर लें, जिससे बाद की आने वाली मुश्किलों से निपटा जा सके। सरकार का जोर 15 के बाद भी कही भी किसी रूप में भीड़ न लगने देने का है। मौजूदा वक्त की सारी ऐहतियात बाद में भी सख्ती से बरती जाएगी। इसमें समूह में न निकलने से लेकर सैनिटाइजेशन तक शामिल हैं।
कम संक्रमण वाले जिलों में पहले हटेगा लाकडाउन
सरकार पहले उन जिलों से लॉकडाउन हटाएगी, जहाँ कोरोना वायरस संक्रमण अपेक्षा काफी  कम है। इसमे भी वायरस संक्रमण वाले हॉट स्पॉट चिन्हित किए जा रहे हैं। सूत्र बताते हैं कि तब्लीगी जमात के संक्रिम त लोग कई जिलों में पहुँच चुके हैं और कोरोना वैरियर बन हुए हैं। ऐसे लोगो के कारण खास जिलों या उनके खास इलाको में जांच पूरी होने तक बंदिश रहेगी।
सीएम ने पहले 15 जिलो में व बाद में पूरे यूपी में लॉकडाउन का एलान किया। 24 मार्च को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश भर में इसका ऐलान करते हुए सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने को कहा था। पीएम ने हाल में 14 अप्रैल के बाद लॉक डाउन हटाने का संकेत दिया है।
लॉकडाउन खुलने पर सोशल डिस्टेंसिंग पर अमल  करें 
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि अगर 15 अप्रैल से लॉकडाउन खुलता है तो हालात बहुत चुनौतीपूर्ण होंगे। सभी को इसका पूरा ख्याल रखना जरूरी है। ऐसे में जो जहां फंसा होगा, वहां से आने का प्रयास करेगा। इन हालातों में सोशल डिस्टेंसिंग पर अमल  कराना बेहद चुनौतीपूर्ण होगा। इसके लिए अभी से कार्ययोजना तैयार करें। स्कूल, कॉलेज, अलग-अलग तरह के बाजार और मॉल कब और कैसे खुलेंगे इसकी कार्ययोजना तैयार करें।


10 बांग्लादेशियों के खिलाफ मामला

सीतापुर। 10 बांग्लादेशियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। थाना अध्यक्ष अजय यादव ने बताया कि धर्म प्रचार के लिए निकले इन 10 बांग्लादेशी मौलानाओं का वीजा टूरिस्ट से संबंधित था। मामला खैराबाद थानाक्षेत्र का है। पिछले दिनों कस्बे में मिले 10 बांग्लादेशियों के विरुद्ध पुलिस ने मुकदमा दर्ज किया है। यह लोग 6 मार्च को जिले में आए थे। इनके साथ में दो व्यक्ति महाराष्ट्र राज्य के भी मौजूद थे। यह सभी लोग 31मार्च को खैराबाद कस्बे के अर्जुनपुर मोहल्ले में एक मकान में मौजूद मिले थे। इन लोगों की खबर मिलते ही एसडीएम सदर अमित भट्ट ने डाक्टरों की टीम के साथ इनके स्वास्थ्य की प्रारंभिक जांच कराई थी। इसके बाद इन सभी को गुरुवार को कस्बे के जेएलएमडीजे कॉलेज के क्वारंटाइन केंद्र में शिफ्ट किया गया था। गुरुवार देर रात जिला प्रशासन के निर्देश पर इनके विरुद्ध वीजा उल्लंघन के मामले में मुकदमा दर्ज किया गया है।बताया जा रहा है कि यह लोग सीतापुर शहर में किसी मस्जिद में होने वाली जमात में शामिल होने के लिए आए थे। यह सभी बांग्लादेशी खैराबाद कस्बे के मसवासी टोला स्थित मस्जिद में ठहरे हुए थे। इन लोगों को 2 अप्रैल को वापस दिल्ली जाना था, लेकिन लाकडाउन होने के चलते ये लोग अभी तक स्वदेश नहीं लौट सके थे।मतिउर्रहमान, अब्दुल मालिक, मोहम्मद जहीरुल आलम, हारून रशीद, मोहम्मद दिलवाड़ शरीफ, हाजी मोहम्मद अयूब, मोहम्मद मोहसिन, जानी हुसैन, मोहम्मद शाह आलम हुसैन, मोहम्मद अबू सईद खान।


स्वास्थ्य कर्मियों से दुर्व्यवहार निंदनीय

लखनऊ। पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने संकट के समय सेवा भावना से जुटे डाक्टरों एवं स्वास्थ्यकर्मियों के साथ हुई दुर्व्यवहार की घटनाओं को निंदनीय बताया है। उन्होंने सरकार से इनकी सुरक्षा के समुचित प्रबंध की मांग की है।पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने मरीजों की सेवा में लगे 50 से भी अधिक डाक्टरों एवं स्वास्थ्यकर्मियों के कोरोनाग्रस्त होने की सूचना पर भी चिंता जताई। उन्होंने कहा कि सरकार डॉक्टरों व स्वास्थ्यकर्मियों के सुरक्षा उपकरणों का भी समुचित प्रबंध करे। उन्होंने जनता से अफवाहों से बचने और स्वास्थ्य कर्मियों का सम्मान करने की अपील की है।पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने शुक्रवार को एक बयान जारी कर कहा कि जनता का विश्वास बनाए रखने के लिए सरकार से कुछ अपेक्षाएं भी हैं, जिनका समय से निराकरण होना चाहिए। क्या संकट में अभाव के समय में भी मेडिकल उपकरणों का निर्यात हुआ है? क्या केवल मनरेगा या राशनकार्ड धारकों को ही राशन मिल रहा है? लॉकडाउन में सार्वजनिक वितरण प्रणाली (पीडीएस) का सर्वर डाउन होने के कारण जनता पूरे-पूरे दिन भूखी प्यासी लाइनों में खड़ी रही।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रविवार पांच अप्रैल की रात नौ बजे देश की जनता से सभी लाइटें बंद कर नौ मिनट मोमबत्ती, दीया, टॉर्च या मोबाइल की फ्लैशलाइट जलाने की अपील पर अखिलेश यादव ने तंज कसते हुए एक ट्वीट किया। उन्होंने लिखा कि 'बाहर भी कम न होगी रोशनी, दिलों में उजाले बनाए रखिए।'


सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

सावधानी बरतें, सतर्क रहें।


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

यूनिवर्सल एक्सप्रेस    (हिंदी-दैनिक)


अप्रैल 05, 2020, RNI.No.UPHIN/2014/57254


1. अंक-237 (साल-01)
2. रविवार, अप्रैल 05, 2020
3. शक-1942,चैैत्र-शुक्ल पक्ष, तिथि- द्वादशी, विक्रमी संवत 2077।


4. सूर्योदय प्रातः 06:15,सूर्यास्त 06:40।


5. न्‍यूनतम तापमान 18+ डी.सै.,अधिकतम-31+ डी.सै., बरसात की संभावना बनी रहेगी।


6.समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा।
7. स्वामी, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहींं है।


8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102


9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.,201102


https://universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
cont.:-935030275
 (सर्वाधिकार सुरक्षित)


 


दुनिया में सबसे अधिक परेशान देश है 'अमेरिका'

वाशिंगटन डीसी। कोरोना महामारी की शुरुआत के साथ ही दुनिया भर में सबसे अधिक परेशान देश अमेरिका है। वैश्विक मामलों का आंकड़े की लिस्ट में पहले ...