तेलंगाना लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
तेलंगाना लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

गुरुवार, 4 अप्रैल 2024

विस्फोट में मरने वालों की संख्या बढ़कर 6 हुई

विस्फोट में मरने वालों की संख्या बढ़कर 6 हुई 

इकबाल अंसारी 
हैदराबाद। तेलंगाना के संगारेड्डी जिले में दवा बनाने वाली एक कंपनी के संयंत्र में लगे रासायनिक रिएक्टर में हुए विस्फोट में मरने वालों की संख्या बढ़कर छह हो गई है। पुलिस ने बृहस्पतिवार को यह जानकारी दी। जिले के हथनूर मंडल के चंदापुर गांव में स्थित एसबी ऑर्गेनिक्स लिमिटेड की फैक्टरी में बुधवार को हुए विस्फोट में चार लोगों की मौत हो गई थी और 16 अन्य लोग घायल हुए थे।
पुलिस ने बताया कि बृहस्पतिवार को फैक्टरी परिसर में मलबे के नीचे एक कर्मचारी का शव मिला और एक घायल व्यक्ति ने बुधवार रात उपचार के दौरान दम तोड़ दिया था। पुलिस के मुताबिक, मृतकों में कंपनी के निदेशक और इकाई के कर्मचारी शामिल हैं। पुलिस ने बताया कि मृतक आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, तमिलनाडु और मध्य प्रदेश के रहने वाले थे।
पुलिस और दमकल विभाग के अधिकारियों ने बताया कि विस्फोट के बाद आग लग गई, जो फार्मा इकाई के परिसर में फैल गई। बाद में आग पर काबू पा लिया गया। घटना में घायल हुए 16 अन्य लोगों को इलाज के लिए विभिन्न अस्पतालों में स्थानांतरित कर दिया गया है। पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि कंपनी के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। अधिकारियों ने बताया कि विस्फोट के कारण की जांच की जा रही है।

शुक्रवार, 15 मार्च 2024

पीएम मोदी ने मल्काजगिरी में रोड शो किया

पीएम मोदी ने मल्काजगिरी में रोड शो किया

इकबाल अंसारी 
हैदराबाद। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हैदराबाद के मल्काजगिरी में रोड शो किया। मद्रास हाईकोर्ट ने तमिलनाडु के कोयंबटूर में प्रस्तावित पीएम मोदी के रोड शो को मंजूरी दे दी है। इससे पहले स्थानीय प्रशासन ने बीजेपी यहां पीएम मोदी के रोड शो को अनुमति देने से इनकार कर दिया था। दरअसल लोकसभा चुनाव को देखते हुए भारतीय जनता पार्टी ने गुरुवार को कोयंबटूर सिटी पुलिस को एक ज्ञापन सौंपकर 18 मार्च को PM मोदी के 3.6 किलोमीटर लंबे रोड शो की मेजबानी करने की अनुमति मांगी थी। सूत्रों के मुताबिक, अनुमति देने से इनकार करते हुए कोयंबटूर प्रशासन ने इसके पीछे चार प्रमुख कारण कारण गिनाए हैं। जिनमें शामिल हैं। 1- सुरक्षा का खतरा 2- कोयंबटूर का सांप्रदायिक इतिहास 3- आम जनता को होने वाली परेशानी 4- रोड शो के मार्ग में मौजूद स्कूलों की वजह से छात्रों को होनी वाली परेशानी यह रोड शो लोकसभा चुनाव से पहले पीएम मोदी के दक्षिण भारत दौरे का हिस्सा था। भाजपा ने इस टेक्सटाइल सिटी में 3.6 किलोमीटर लंबे रोड शो की अनुमति मांगी थी प्रशासन का कहना है कि 18 और 19 मार्च को छात्रों की सार्वजनिक परीक्षाएं भी होंगी और जिस जगह पर रोड शो प्रस्तावित है। उस रास्ते में कई स्कूल भी स्थित हैं। आर एस पुरम में वही जगह है। जहां 14 फरवरी 1998 को भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी का कार्यक्रम प्रस्तावित था और वहां सिलसिलेवार बम धमाके हो गए थे। धमाकों से कुछ घंटे पहले आडवाणी ने अपनी बैठक रद्द कर दी। बाद में सभा स्थल के करीब विस्फोटकों से लदी एक कार मिली थी। भाजपा राज्य सरकार से उस स्थान पर बम विस्फोटों में जान गंवाने वाले लोगों के लिए एक स्मारक बनाने की मांग कर रही है।

शनिवार, 9 दिसंबर 2023

तीसरी विधानसभा का पहला सत्र, शपथ ली

तीसरी विधानसभा का पहला सत्र, शपथ ली 

इकबाल अंसारी 
हैदराबाद। तेलंगाना की तीसरी विधानसभा का पहला सत्र शनिवार को यहां शुरू हुआ और नवनिर्वाचित विधायकों को शपथ दिलाई गई। मुख्यमंत्री ए. रेवंत रेड्डी ने सबसे पहले शपथ ली और उनके बाद उपमुख्यमंत्री मल्लू बी. विक्रमार्क ने शपथ ली।
हालांकि, भाजपा के विधायकों ने ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के विधायक अकबरुद्दीन ओवैसी को अस्थायी अध्यक्ष (प्रोटेम स्पीकर) नियुक्त किये जाने के विरोध में शनिवार को शपथ नहीं ली। भाजपा ने आरोप लगाया कि ओवैसी को अस्थायी अध्यक्ष नियुक्त करना नियमों का उल्लंघन है। सत्र शुरू होने से पहले ओवैसी ने अस्थायी अध्यक्ष के तौर पर शपथ ली।
उन्हें राजभवन में राज्यपाल तमिलिसाई सौंदरराजन ने शपथ दिलायी। इसके बाद, ओवैसी ने सदन की कार्यवाही की अध्यक्षता की। कई सदस्यों के शपथ ग्रहण करने के बाद सदन की कार्यवाही 14 दिसंबर तक स्थगित कर दी गई। केंद्रीय मंत्री और भाजपा की प्रदेश इकाई के अध्यक्ष जी किशन रेड्डी ने आरोप लगाया कि सदन में अन्य वरिष्ठ सदस्यों के होने के बावजूद ओवैसी को अस्थायी अध्यक्ष नियुक्त किया गया।
रेड्डी ने पत्रकारों से कहा, ‘‘विधानसभा में अस्थायी अध्यक्ष के तौर पर वरिष्ठ सदस्य को नियुक्त करने की परंपरा है। भाजपा, एआईएमआईएम और कांग्रेस के बीच सहमति के अनुसार, अस्थायी अध्यक्ष के रूप में अकबरुद्दीन की नियुक्ति का विरोध करती है।’’ उन्होंने कहा कि भाजपा ने पहले ही दावा किया है कि कांग्रेस और एआईएमआईएम के बीच मौन सहमति है। उन्होंने कहा कि भाजपा अस्थायी अध्यक्ष के तौर पर किसी वरिष्ठ सदस्य की नियुक्ति के बाद अध्यक्ष का चुनाव कराना चाहती है।
उन्होंने कहा कि पार्टी इस मुद्दे को राज्यपाल के समक्ष उठाएगी। रेड्डी ने कहा कि भाजपा विधायक सदन के नियमित अध्यक्ष के कार्यभार संभालने के बाद शपथ लेंगे। उन्होंने कहा, ‘‘विधानसभा के नियमों के उल्लंघन के कारण हम एआईएमआईएम के सदस्य को प्रोटेम स्पीकर (अस्थायी अध्यक्ष) बनाए जाने का विरोध कर रहे हैं। इसलिए, हमारे सदस्य उनके अध्यक्ष रहने पर शपथ लेने का बहिष्कार कर रहे हैं।’’
रेड्डी ने आरोप लगाया कि कांग्रेस ने सत्ता संभालने के तीन दिन बाद ही अपनी तुष्टिकरण की राजनीति और विधानसभा की परंपराओं का उल्लंघन शुरू कर दिया है। बाद में, भाजपा विधायकों ने राजभवन में एक ज्ञापन सौंपकर राज्यपाल से अस्थायी अध्यक्ष के रूप में अकबरुद्दीन औवेसी की नियुक्ति को रद्द करने का अनुरोध किया। भाजपा विधायकों ने ज्ञापन में कहा कि संविधान के अनुच्छेद 188 के अनुसार, विधानसभा में वरिष्ठतम सदस्य को अस्थायी अध्यक्ष के रूप में नामित किया जाना चाहिए।

सीएम ने 6 सलाहकारों को बर्खास्त किया

सीएम ने 6 सलाहकारों को बर्खास्त किया 

इकबाल अंसारी 
हैदराबाद। पद संभालने के तीन दिन के भीतर एक और महत्वपूर्ण फैसले में तेलंगाना के मुख्यमंत्री ए रेवंत रेड्डी ने सरकार के छ: सलाहकारों को बर्खास्त कर दिया है। मुख्य सचिव शांति कुमारी ने एक सरकारी आदेश जारी कर तीन मुख्य सलाहकारों और तीन सलाहकारों की नियुक्ति या विस्तार को रद्द कर दिया। सभी सलाहकारों की नियुक्ति के. चंद्रशेखर राव की अध्यक्षता वाली पिछली बीआरएस सरकार द्वारा की गई थी।
उसमें पूर्व मुख्य सचिव राजीव शर्मा और सोमेश कुमार, पूर्व डीजीपी अनुराग शर्मा, पूर्व आईपीएस अधिकारी ए.के. खान, सेवानिवृत्त आईईएस जी.आर. रेड्डी और सेवानिवृत्त आईएफएस आर. शोबा शामिल थे। मुख्य सचिव के पद से सेवानिवृत्त होने के बाद राजीव शर्मा को 2016 में सरकार का मुख्य सलाहकार नियुक्त किया गया था। इस साल अगस्त में उन्हें एक्सटेंशन (विस्तार) दिया गया था। सोमेश कुमार को मई में मुख्यमंत्री का मुख्य सलाहकार नियुक्त किया गया था। अदालत के आदेश के बाद आंध्र प्रदेश में स्थानांतरित होने के कुछ सप्ताह बाद उन्होंने स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति ले ली थी।
हाईकोर्ट द्वारा उस राज्य में उनके आवंटन को रद्द करने के बाद सोमेश कुमार को तेलंगाना के मुख्य सचिव के पद से हटा दिया गया था। अगस्त में तत्कालीन बीआरएस विधायक चेन्नामनेनी रमेश को 30 नवंबर के विधानसभा चुनाव लड़ने के लिए टिकट से इनकार किए जाने के बाद उन्हें शांत करने के लिए मुख्य सलाहकार (कृषि) नियुक्त किया गया था। पूर्व डीजीपी अनुराग शर्मा सलाहकार (पुलिस, कानून व्यवस्था और अपराध नियंत्रण) के रूप में कार्यरत रहे हैं। के. खान को पिछले साल दिसंबर में अल्पसंख्यक कल्याण सलाहकार के रूप में विस्तार दिया गया था। जी.आर. रेड्डी सलाहकार (वित्त) के रूप में कार्यरत थे जबकि शोबा सलाहकार (वन मामले) थीं।

गुरुवार, 7 दिसंबर 2023

शपथ: 11 मंत्रियों के विभागों की घोषणा की

शपथ: 11 मंत्रियों के विभागों की घोषणा की 

इकबाल अंसारी 
हैदराबाद। तेलंगाना के मुख्यमंत्री ए. रेवंत रेड्डी ने गुरुवार को 11 नए मंत्रियों के विभागों की घोषणा की, जिन्होंने आज दिन में यहां शपथ ली थी। तेलंगाना के मुख्यमंत्री ने गुरुवार को 11 नए मंत्रियों को विभाग आवंटित किए, जिन्होंने दिन में यहां शपथ ली थी।
भट्टी विक्रमार्क नयी सरकार में उप मुख्यमंत्री होंगे और उन्हें राजस्व विभाग दिया गया है। टीपीसीसी के पूर्व अध्यक्ष एन उत्तम कुमार रेड्डी को गृह मंत्रालय मिला है जबकि डी श्रीधर बाबू को वित्त विभाग दिया गया है।
निम्नलिखित पोर्टफोलियो हैं: एन उत्तम कुमार रेड्डी - गृह मंत्रालय, कोमाटिरेड्डी वेंकट रेड्डी - नगर प्रशासन, डी श्रीधर बाबू - वित्त, पोंगुलेटी श्रीनिवास रेड्डी - सिंचाई, कोंडा सुरेखा - महिला कल्याण, पोन्नम प्रभाकर- बीसी कल्याण, दामोदर राजनरसिम्हा - चिकित्सा और स्वास्थ्य, जुपल्ली कृष्ण राव - नागरिक आपूर्ति, डी अनसूया (सीथक्का) - आदिवासी कल्याण, तुम्माला नागेश्वर राव- सड़कें और इमारतें।

रविवार, 22 अक्तूबर 2023

भाजपा ने 52 उम्मीदवारों की पहली सूची जारी की

भाजपा ने 52 उम्मीदवारों की पहली सूची जारी की

इकबाल अंसारी 
हैदराबाद। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने रविवार को तेलंगाना विधानसभा चुनाव के लिए 52 उम्मीदवारों की पहली सूची जारी की। पार्टी ने मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव (केसीआर) के खिलाफ अपने विधायक इटाला राजेन्द्र को गजवेल से उम्मीदवार बनाया है, जबकि तेलंगाना इकाई के पूर्व अध्यक्ष बंदी संजय कुमार समेत अपने तीन सांसदों को भी विधानसभा चुनाव के मैदान में उतारा है। 
भाजपा ने अपने हिंदूवादी नेता टी राजा सिंह का निलंबन रद्द करने के बाद उनकी गौशमहल सीट से उन्हें मैदान में उतारा है। राजा सिंह को एक सोशल मीडिया मंच पर अपलोड किए गए वीडियो में ‘‘इस्लाम और पैगंबर मोहम्मद’’ के खिलाफ उनकी कथित विवादास्पद टिप्पणियों के बाद पिछले साल अगस्त में पार्टी से निलंबित कर दिया गया था। इस वीडियो को बाद में सोशल मीडिया मंच से हटा दिया गया था। 
सिंह ने ‘एक्स’ पर एक पोस्ट में कहा, ‘‘आगामी विधानसभा चुनाव के लिए गौशमहल से उम्मीदवार बनाए जाने पर मैं भाजपा नेतृत्व के प्रति आभार व्यक्त करता हूं।’’ 
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की मौजूदगी में शुक्रवार को हुई भाजपा की केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक में इन नामों को अंतिम रूप दिया गया। पार्टी ने 12 महिलाओं को उम्मीवार बनाया है। पार्टी ने तेलंगाना इकाई के पूर्व अध्यक्ष व करीमनगर से सांसद बंदी संजय कुमार को करीमनगर विधानसभा क्षेत्र से, निजामाबाद के सांसद अरविंद धर्मापुरी को कोराटला विधानसभा क्षेत्र से और आदिलाबाद के सांसद सोयम बाबू राव को बोआथ विधानसभा क्षेत्र से उम्मीदवार बनाया है। 
तेलंगाना से भाजपा के चार लोकसभा सदस्य हैं। चौथे सांसद केंद्रीय मंत्री जी किशन रेड्डी हैं। वह पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष भी हैं। उम्मीदवारों की पहली सूची में हालांकि उनका नाम नहीं है। तेलंगाना में सत्तारूढ़ भारत राष्ट्र समिति (बीआरएस) से भाजपा में आए पूर्व मंत्री इटाला राजेन्द्र, गजवेल के अलावा हुजूराबाद से भी चुनाव लड़ेंगे। भाजपा में शामिल होने के बाद राजेन्द्र ने इस सीट पर हुए उपचुनाव में जीत दर्ज की थी। 
भाजपा के केंद्रीय नेतृत्व ने उन्हें प्रदेश में चुनाव अभियान समिति का मुखिया बनाया है। राजेन्द्र ने केंद्रीय नेतृत्व के समक्ष मुख्यमंत्री के खिलाफ चुनाव लड़ने की पहले ही इच्छा जताई थी। केसीआर आगामी चुनावों में दो क्षेत्रों - गजवेल और कामारेड्डी विधानसभा क्षेत्रों से चुनाव लड़ेंगे। 
भाजपा की सूची के अनुसार, के. वेंकट रमना रेड्डी कामारेड्डी निर्वाचन क्षेत्र में मुख्यमंत्री को चुनौती देंगे।
विधानसभा चुनाव में तीन सांसदों को मैदान में उतारने की पार्टी की रणनीति पर भाजपा के वरिष्ठ नेता एन रामचंदर राव ने कहा कि पार्टी उम्मीदवारों की जीत की क्षमता पर भरोसा कर रही है। भाजपा नेता ने ‘पीटीआई-भाषा’ से कहा, ‘‘मूल रूप से, भाजपा का विचार क्षमतावान उम्मीदवारों को मैदान में उतारने का है, ताकि जीतने की संभावना अधिक हो और विधानसभा में पार्टी का अधिक प्रतिनिधित्व भी हो।’’ 
उन्होंने कहा कि पार्टी नए चेहरों को मैदान में उतारकर जोखिम नहीं लेना चाहती। पार्टी ने जिन महिलाओं को उम्मीदवार बनाया है उनमें डॉ. बोगा श्रावणी (जगतियाल), कंडूला संध्या रानी (रामागुंडम), बोडिगा शोभा (चोपाडांडी) और रानी रुद्रमा रेड्डी (सिरसिला) प्रमुख हैं। रूद्रमा रेड्डी बीआरएस के कार्यकारी अध्यक्ष और केसीआर के पुत्र के टी रामा राव को सिरसिल्ला में चुनौती पेश करेंगी। तेलंगाना में 119 विधानसभा सीट के लिए एक चरण में 30 नवंबर को मतदान होगा।

रविवार, 3 सितंबर 2023

चोरी के शक में युवक को उल्टा लटका कर पिटा

चोरी के शक में युवक को उल्टा लटका कर पिटा   

इकबाल अंसारी  
तेलंगाना। तेलंगाना से एक चौंका देने वाली घटना सामने आई है। जिसे जान आपके होश उड़ जाएंगे। जानकारी के अनुसार यह घटना मंचिरियाल जिले के मंदामरि क्षेत्र का है। जहां बकरी चोरी के आरोप में एक दलित युवक और उसके दोस्त को कुछ लोगों ने उल्टा लटका दिया और उनके साथ मारपीट की। घटना शनिवार की बताई जा रही है। 
दरअसल, स्थानीय लोगों का कहना है कि मंदामारी के कोमुराजुला रामुलु, उनकी पत्नी स्वरूपा और बेटा श्रीनिवास अंगदी बाजार इलाके में रहते हैं। उनकी बकरी गायब हो जाने के बाद चरवाहे और उसके दलित दोस्त को बकरी चुराने के संदेह में शेड में बुलाया गया। इसके बाद दोनों को उल्टा लटका दिया गया और मारपीट की गई। साथ ही नीचे आग भी जला दी गई। जिसके बाद दोनों चिल्लाने लगे और नीचे उतारने की गुहार लगाते रहे लेकिन आरोपियों ने उनकी एक न सुनी। फिलहाल, किरण की पत्नी की शिकायत पर पुलिस ने एससी/एसटी एक्ट के तहत मामला दर्ज कर दिया है। इसके अलावा शनिवार को बेल्लमपल्ली एसीपी सदैया और एसएसआई चंद्र कुमार ने घटनास्थल पर पहुंचकर मामले की जांच भी की।
वहीं, बेल्लमपल्ली एसीपी सदैया ने बताया कि घटना शुक्रवार की है। शनिवार को इसकी शिकायत मिली जिसके बाद एससी/एसटी अधिनियम और आईपीसी की धारा 307 के तहत मामला दर्ज किया गया है और तीन आरोपियों रामुलु, उनकी पत्नी स्वरूपा और बेटे श्रीनिवास को गिरफ्तार कर न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है।

शनिवार, 12 अगस्त 2023

तेलंगना में 40 करोड़ डॉलर के निवेश को मंजूरी

तेलंगना में 40 करोड़ डॉलर के निवेश को मंजूरी   

इकबाल अंसारी    
हैदराबाद। फिट होंग टेंग लिमिटेड (फॉक्सकॉन) के निदेशक मंडल ने तेलंगाना में 40 करोड़ डॉलर के निवेश को मंजूरी दे दी है। फॉक्सकॉन इंडिया के प्रतिनिधि वी ली ने सोशल मीडिया पोस्ट में यह जानकारी दी। कंपनी पहले ही भारत में 15 करोड़ डॉलर के निवेश को मंजूरी दे चुकी है। इस तरह उसका कुल प्रस्तावित निवेश बढ़कर 55 करोड़ डॉलर हो गया है।
ताईवान की फॉक्सकॉन एप्पल की सबसे बड़ी आपूर्तिकर्ता है। फॉक्सकॉन ने शुक्रवार को हांगकांग शेयर बाजार को बताया, ''फिट सिंगापुर ने चांग यी इंटरकनेक्ट टेक्नोलॉजी (इंडिया) प्राइवेट लिमिटेड को 40 करोड़ डॉलर का पूंजी निवेश करने का प्रस्ताव दिया है।
इस कंपनी की 99.99 प्रतिशत पूंजी हिस्सेदारी फिट सिंगापुर के पास है। वी ली ने अपने सोशल मीडिया हैंडल पर पोस्ट करते हुए कहा, ''हम बहुत तेजी से बढ़ रहे हैं, तेलंगाना! 40 करोड़ डॉलर की एक और खेप आ रही है। ''वी ली की पोस्ट पर प्रतिक्रिया देते हुए, तेलंगाना के आईटी और उद्योग मंत्री के टी रामा राव ने शनिवार को ट्वीट किया कि नया निवेश प्रस्ताव पहले से ही प्रतिबद्ध 15 करोड़ डॉलर के अतिरिक्त है।
रामाराव ने एक्स पर ट्वीट किया, ''फॉक्सकॉन ग्रुप के साथ हमारी दोस्ती दृढ़ बनी हुई है। हम सभी आपसी प्रतिबद्धताओं को पूरा कर रहे हैं। कुल 55 करोड़ डॉलर (पिछले 15 करोड़ डॉलर को जोड़कर) के निवेश के साथ, फिट तेलंगाना में अपने वादों को पूरा करने के लिए तैयार है। यह एक बार फिर तेलंगाना की गति को साबित करता है।

शुक्रवार, 30 जून 2023

2 ट्रकों की भिड़ंत, 2 लोग जिंदा जले

2 ट्रकों की भिड़ंत, 2 लोग जिंदा जले

इकबाल अंसारी 

हैदराबाद। तेलंगाना में शुक्रवार को मेडक जिले के नरसिंगी गांव में राष्ट्रीय राजमार्ग पर दो कंटनर ट्रकों की आमने-सामने की भिड़ंत के बाद आग लगने से दो लोग जिंदा जल गए। पुलिस ने कहा कि टक्कर के बाद एक ट्रक का कैबिन पूरी तरह जल गया।

ट्रक यहां से निजामाबाद जा रहा था। घटना की सूचना मिलने के बाद एक दमकल घटनास्थल पर पहुंचा और आग पर काबू पाया। मृतकों की पहचान नाराजू और बसावारु के रुप में की गई है। दोनों कर्नाटक के रहने वाले थे। पुलिस ने कहा कि इस संबंध में मामला दर्ज करके जांच की जा रही है।

शुक्रवार, 2 जून 2023

मंत्रालय ने मनाया तेलंगाना का 'स्थापना दिवस'

मंत्रालय ने मनाया तेलंगाना का 'स्थापना दिवस'

इकबाल अंसारी 

हैदराबाद। केंद्र सरकार के संस्कृति मंत्रालय ने शुक्रवार को हैदराबाद के गोलकुंडा किले में पूरी भव्यता के साथ तेलंगाना का स्थापना दिवस मनाया। इस अवसर पर केंद्रीय पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री जी किशन रेड्डी ने राष्ट्रीय ध्वज फहराया और उसके बाद तेलंगाना में वर्तमान स्थिति पर अपनी चिंता व्यक्त की। उन्होंने कहा कि तेलंगाना एक ही परिवार के हाथों में है और राज्य में विभिन्न क्षेत्रों में भ्रष्टाचार व्याप्त हो चुका है।

रेड्डी ने आत्मनिरीक्षण की आवश्यकता पर बल दिया और राज्य में प्रचलित भूमि, शराब और ठेका माफियाओं की आलोचना की। इसके अलावा, रेड्डी ने आरोप लगाया कि राज्य सरकार ने भूमि हड़पने के उद्देश्य से 111 जीवीओ को रद्द कर दिया और राज्य कर्ज के बोझ से दब गया है। उन्होंने तेलंगाना के गठन के पीछे की मंशा पर सवाल उठाते हुए कहा कि क्या यह केवल कर्ज का बोझ लादने के लिए किया गया था और राज्य सरकार पर हजारों करोड़ रुपये के भ्रष्टाचार में लिप्त होने का आरोप लगाया।

उन्होंने केंद्रीय योजनाओं को लागू करने में राज्य सरकार की विफलता की भी आलोचना की और केजी से पीजी तथा आदिवासी आरक्षण पर प्रगति में कमी पर सवाल उठाया। केंद्रीय मंत्री ने बकाया बिलों के कारण सरपंचों द्वारा की गई आत्महत्या, गरीबों के लिए आवास की कमी लेकिन फार्महाउसों में वृद्धि, मौजूदा अस्पतालों की तालाबंदी और राज्य गठन के आंदोलन से बाहर रहे लोगों के प्रति पक्षपात जैसे मुद्दों पर प्रकाश डाला।

रेड्डी ने कहा कि तेलंगाना राज्य का गठन सामूहिक प्रयासों से हुआ, जिसमें भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने उस समय संयुक्त कार्रवाई समिति (जेएसी) में एकमात्र राष्ट्रीय पार्टी होने के कारण महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। उन्होंने संसद में तेलंगाना राज्य गठन विधेयक को सफलतापूर्वक पारित करने में विपक्षी दल के रूप में भाजपा को श्रेय दिया। उन्होंने तेलंगाना राज्य स्थापना दिवस के अवसर पर पूरी दुनिया में निवास करने वाले तेलुगू लोगों को अपनी शुभकामनाएं दी।

समारोह के हिस्से के रूप में, पिछले 09 वर्षों में केंद्र सरकार की उपलब्धियों को प्रदर्शित करने के लिए एक विशेष प्रदर्शनी का भी उद्घाटन किया गया। आयोजन स्थल पर आज शाम पद्मश्री से सम्मानित आनंद शंकर जयंत, प्रसिद्ध गायक शंकर महादेवन और मंगली सहित प्रसिद्ध कलाकारों का एक अनूठा सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा, जिसमें कई कलाकार तेलंगाना एवं देश की समृद्ध सांस्कृतिक विरासत का प्रदर्शन करेंगे।

सोमवार, 19 सितंबर 2022

जन्म के 9 वर्ष बाद बच्ची का नाम रखा 'महाती'

जन्म के 9 वर्ष बाद बच्ची का नाम रखा 'महाती'

इकबाल अंसारी 

हैदराबाद। तेलंगाना के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव (केसीआर) ने 9-वर्ष की एक बच्ची का नाम ‘माहाती’ रखा है। बच्ची का जन्म 2013 में हुआ था और तेलंगाना आंदोलन से जुड़े उसके माता-पिता आंदोलन के नेता केसीआर से उसका नाम रखवाना चाहते थे इसलिए उन्होंने बच्ची का कोई आधिकारिक नाम नहीं रखा था। टीआरएस एमएलसी मधुसूदनाचारी ने तीनों को मुख्यमंत्री से मिलवाया।तेलंगाना के मुख्यमंत्री केसीआर से बच्ची और उसके परिजनों की मुलाकात रविवार को हुई। बच्ची के माता-पिता सुरेश और अनिथा ने केसीआर की अगुआई में चलाए गए तेलंगाना राज्य आंदोलन में सक्रिय रूप से हिस्सा लिया था। 2013 में जब उनकी बेटी का जन्म हुआ तो उनकी इच्छा थी कि बच्ची का नाम केसीआर द्वारा रखा जाए। उनकी यह इच्छा 9 साल तक पूरी नहीं हुई। इस दौरान लड़की बिना नाम के रही।

तेलंगाना राष्ट्र समिति के विधान परिषद सदस्य और पूर्व विधानसभा अध्यक्ष मधुसूधन चारी को हाल ही में इस बात की जानकारी मिली। वह बच्ची और उसके परिजनों को तेलंगाना के मुख्यमंत्री केसीआर के आधिकारिक निवास स्थान प्रगति भवन लेकर आए। केसीआर को जब इस संबंध में जानकारी मिली तो उन्होंने बच्ची और उसके परिजनों से मुलाकात की और बच्ची का नाम महती रखा। मुख्यमंत्री और उनकी पत्नी ने दंपति और उनकी बेटी को उपहार भी सौंपे। सीएम ने महती की शिक्षा के लिए वित्तीय सहायता की घोषणा की।

सीएम केसीआर द्वारा नामकरण किए जाने के बाद बच्ची और उनके परिजन काफी खुश दिखे। बच्ची के पिता सुरेश ने कहा कि हमारा सपना आज साकार हुआ है। मुख्यमंत्री ने महती की शिक्षा के लिए मदद की बात की है। हमलोग इसके लिए उनके आभारी हैं

गुरुवार, 21 जुलाई 2022

तेलंगाना में चावल खरीद अभियान को बहाल किया जाएं

तेलंगाना में चावल खरीद अभियान को बहाल किया जाएं 

इकबाल अंसारी 

हैदराबाद। केंद्र ने निर्णय किया है कि केंद्रीय हिस्से (एफसीआई और डीसीपी के अंतर्गत राज्य द्वारा) के मद्देनजर तेलंगाना में चावल खरीद अभियान को बहाल कर दिया जाएं। उपभोक्ता कार्य, खाद्य और सार्वजनिक वितरण, वाणिज्य और उद्योग तथा कपड़ा मंत्री पियूष गोयल ने यहां मीडिया कर्मियों को सम्बोधित करते हुये यह बात कही। गोयल ने तेलंगाना सरकार की आलोचना करते हुये कहा कि राज्य सरकार ने केंद्र द्वारा लगातार ध्यानाकर्षित करने के बावजूद प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना (पीएमजीकेएवाई) के तहत अप्रैल और मई माह का राशन निर्धनजनों को वितरित नहीं किया है। पीयूष गोयल ने गरीबों और किसानों के लिये केंद्र की चिंता और प्रतिबद्धता को दोहराया। उन्होंने कहा कि पीएमजीकेएवाई के जरिये, केंद्र सरकार यह सुनिश्चित करना चाहती है कि किसी भी गरीब का हक न मारा जाये और उन्‍हें उसके पूरे अधिकार मिलें। गोयल ने कहा, “तेलंगाना सरकार ने अप्रैल और मई, 2022 के मद्देनजर डीसीपी स्टॉक से पर्याप्त मात्रा (1.90 लाख मीट्रिक टन) में अनाज उठाया है, लेकिन उसे वितरित नहीं किया है। इस तरह केंद्रीय योजना के लाभार्थियों को लाभों से वंचित कर दिया गया है।”

एक केंद्रीय दल ने मौके पर जाकर धान के भंडारण की जांच की थी। गोयल ने दल द्वारा दी गई सूचना को भी साझा किया। उन्होंने कहा कि 31 मार्च, 2022 को चूक-कर्ता चक्की मालिकों की सूची तैयार की गई थी। सूची में वे चक्की मालिक शामिल थे, जिनके यहां धान की कमी थी। इसके विषय में तेलंगाना राज्य सरकार को भी सूचित कर दिया गया था, ताकि वह फौरी कार्रवाई करे, क्योंकि 40 मिलों में 4,53,896 बोरे कम पाये गये थे। इसके बाद 21 मई, 2022 को दूसरे सर्वेक्षण के बारे में भी राज्य सरकार को बताया गया, जिसके अनुसारः 63 मिलों में कुल 1,37,872 बोरे कम पाये गये, यानी केएमएस 2020-21 (रबी) के हवाले से 12 मिलों, केएमएस 2021-22 (खरीफ) के हवाले से 51 मिलों और 593 मिलों, यानी केएमएस 2020-21 (रबी) की 101 मिलें तथा केएमएस 2021-22 (खरीफ) के हवाले से 492 मिलों में गड़बड़ी थी। धान के भंडारण आंकने योग्य न था, जिसके कारण धान के स्टॉक की मौके पर पुष्टि न हो सकी।

उल्लेखनीय है कि तेलंगाना सरकार के नागरिक आपूर्ति आयुक्त और कार्यवाहक सचिव ने चार अक्टूबर, 2021 को अपने पत्र द्वारा आश्वस्त किया था कि “केएमएस-2020-21 के दौरान धान/चावल की भौतिक पुष्टि के समय आने वाली अड़चनों को दूर करने के लिये, राज्य सरकार यह सुनिश्चित करेगी कि स्टॉक को हमेशा मूल्यांकन करने की स्थिति में रखा जाये और साथ ही उसका पूरा हिसाब-किताब भी रखा जाये। इसके विषय में मानक संचालन प्रक्रिया का भी पालन किया जायेगा।” बहरहाल, जिन मिलों में कमी पाई गई है, उन मिल मालिकों के खिलाफ राज्य सरकार ने अब तक कोई सख्त कार्यवाई नहीं की है। गोयल ने बताया कि 20 प्रतिशत तक के एथेनॉल मिश्रण के लिये तेलंगाना को 36 करोड़ लीटर अतिरिक्त वार्षिक क्षमता की जरूरत है। लेकिन, राज्य सरकार ने इसका प्रसंस्करण नहीं किया। उन्होंने कहा कि एथेनॉल के प्रसंस्करण से किसानों को मदद मिल सकती थी, युवाओं के लिये रोजगार पैदा हो सकते थे और निवेश को भी लाया जा सकता था। इससे पेट्रोलियम के आयात को कम करने में भी मदद मिल सकती थी और इस तरह विदेशी मुद्रा की बचत हो सकती थी। गोयल ने तेलंगाना सरकार से आग्रह किया कि वह गरीबों के प्रति किये गये वायदे को पूरा करे, ताकि लाभार्थियों तक उनका हक पहुंच सके।

तेलंगाना राज्य ने खरीद के सम्बंध में विकेंद्रीकृत प्रणाली को अपनाया है, जिसमें राज्य सरकार, केंद्र सरकार की ओर से धान की खरीद करती है। राज्य अपनी एजेंसियों के जरिये किसानों से धान खरीदता है। धान की कुटाई के बाद जो चावल निकलता है, राज्य उसे एनएफएसए/ओडब्लूएस के तहत अपनी खपत के लिये रख लेता है। चावल का केवल बेशी स्टॉक ही केंद्रीय हिस्से के तौर पर भारतीय खाद्य निगम को सौंपा जाता है। केंद्रीय योजनाओं के लिये खरीद और वितरण में लगने वाला सारा खर्च केंद्र सरकार वहन करती है। प्रक्रियानुसार, धान के स्टॉक की भौतिक पुष्टि राज्य सरकार और एफसीआई का संयुक्त दल करता है। वह राज्य सरकार द्वारा की गई घोषणा के आलोक में धान और चावल की उपलब्धि की जांच करता है। भौतिक पुष्टिकरण के दौरान विभिन्न मिलों में धान के स्टॉक में कमी पाई गई। लिहाजा, राज्य सरकार से निवेदन किया गया कि उन चूक-कर्ता मिल मालिकों के खिलाफ कार्रवाई की जाये, जिनके यहां पुष्टि करते समय धान की कमी पकड़ी गई। बहरहाल, जून माह तक राज्य सरकार ने कोई कार्रवाई नहीं की थी। तेलंगाना सरकार के नागरिक आपूर्ति विभाग ने अप्रैल 2022 से शुरू होने वाले प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना-छठवें चरण के तहत वितरण के लिये भूसी वाला चावल उठाया था। इस योजना के तहत केंद्र सरकार मुफ्त अनाज प्रदान करती है, ताकि कोविड-19 महामारी की मार झेलने वाले लोगों की कठिनाईयां कम हो सकें; हालांकि जून माह की शुरूआत तक लाभार्थियों को यह अनाज वितरित नहीं किया गया था। इसके अलावा, राज्य सरकार ने एथेनॉल बनाने के लिये राज्य में डिस्टलरियां स्थापित करने के लिये दिये गये आवेदनों पर भी कोई कार्रवाई नहीं की है।

उपरोक्त मुद्दों पर राज्य सरकार की निष्क्रियता के कारण यह तय किया गया कि केंद्रीय हिस्से में चावल की आपूर्ति बंद कर दी जाएं। यह निर्णय तेलंगाना में सात जून से प्रभावी हो गया है। यह तब तक लागू रहेगा, जब तक राज्य सरकार कोई ठोस कार्रवाई शुरू नहीं कर देती।तेलंगाना सरकार ने अब सूचित किया है कि उसने चूक-कर्ता चावल मिल मालिकों के खिलाफ कार्रवाई शुरू कर दी है और इसे हर चूक-कर्ता के खिलाफ चलाया जायेगा। इसके अलावा, तेलंगाना के मुख्य सचिव ने सूचित किया है कि पीएमजीकेएवाई छठवें चरण योजना के तहत भूसी वाले चावल का वितरण शुरू कर दिया गया है। उन्होंने आश्वस्त किया कि एनएफएसए के साथ पूरी आबंटित मात्रा वितरित कर दी जायेगी। राज्य सरकार ने एथेनॉल बनाने के लिये डिस्टिलरियों की स्थापना सम्बंधी आवेदनों पर जल्द कार्रवाई शुरू करने के निर्देश जारी कर दिये हैं। राज्य सरकार द्वारा दिये गये आश्वासन और तदुपरान्त की जाने वाली कार्रवाई के मद्देनजर तथा किसानों और पिसाई उद्योग के हितों को सुरक्षित करने के लिये केंद्र सरकार ने केंद्रीय हिस्से में चावल की आपूर्ति बहाल कर दी है। केंद्र सरकार हमेशा किसानों के हितों की रक्षा के लिये समर्पित है और उनके कल्याण के लिये प्रतिबद्ध है। राज्य सरकार को सलाह दी गई है कि वह उपरोक्त मुद्दों पर सच्ची भावना से अपने आश्वासनों को पूरा करे। क्योंकि, ये विषय किसानों तथा मिलों के हित में है।

शनिवार, 19 जून 2021

महत्वपूर्ण दौर से गुजर रही है भारतीय 'वायुसेना'

हैदराबाद। भारतीय वायुसेना प्रमुख आरकेएस भदौरिया ने शनिवार को कहा कि तेजी से बदल रही सुरक्षा चुनौतियों और पड़ोस एवं अन्य क्षेत्रों में बढ़ती भू-राजनीतिक अनिश्चितताओं के मद्देनजर भारतीय वायुसेना (आईएएफ) प्रौद्योगिकियों को तेजी से शामिल करके परिवर्तन के महत्वपूर्ण दौर से गुजर रही है।भदौरिया ने यहां वायु सेना अकादमी में संयुक्त स्नातक परेड (सीजीपी) को संबोधित करते हुए कहा कि वायुसेना परिवर्तन के एक महत्वपूर्ण दौर से गुजर रही है। 
हमारे अभियानों के हर पहलू में प्रौद्योगिकियों और लड़ाकू शक्ति का जितनी तेजी से समावेश अब हो रहा है, उतना पहले कभी नहीं हुआ। उन्होंने कहा कि यह मुख्य रूप से हमारे पड़ोस और अन्य क्षेत्रों में बढ़ती भू-राजनीतिक अनिश्चितताओं के अलावा हमारे सामने मौजूद अभूतपूर्व और तेजी से बदल रहीं सुरक्षा चुनौतियों के कारण है। भदौरिया ने कहा कि पिछले कुछ दशकों ने हर संघर्ष में जीत हासिल करने में वायु शक्ति की महत्वपूर्ण भूमिका स्पष्ट रूप से स्थापित की है और इसी के मद्देनजनर भारतीय वायुसेना की क्षमता में जारी वृद्धि काफी महत्व रखती है। उन्होंने आगे कहा कि इंटीग्रेटेड थिएटर कमांड पर चर्चा चल रही है। क्षमता बढ़ाने के लिहाज से राफेल और एलसीए के बाद हमने दो-तीन बड़े कदम उठाए हैं।
उसमें एएमसीए का सबसे बड़ा है। पांचवीं पीढ़ी का एयरक्राफ्ट जो देश में बनेगा उसका निर्णय ले लिया गया है। इससे पहले, वायुसेना प्रमुख ने परेड की समीक्षा की। उन्होंने कोविड-19 महामारी के खिलाफ राष्ट्रीय लड़ाई में वायुसेना की महत्वपूर्ण भूमिका का भी जिक्र किया।

शनिवार, 12 दिसंबर 2020

फैक्ट्री में लगीं भीषण आग, 8 लोग झुलसे

हैदराबाद। तेलंगाना की राजधानी हैदराबाद स्थित दवा फैक्ट्री में शनिवार को भीषण आग लग गई। फैक्ट्री में लगी इस भीषण आग में 8 लोगों के झुलसने की आशंका जताई जा रही है। न्यूज एजेंसी ANI के मुताबिक, विंध्या ऑर्गेनिक्स की यह दवा यूनिट सांगारेड्डी जिले के बोल्लारम औद्योगिक क्षेत्र में स्थित है। शनिवार दोपहर में अचानक यहां पर आग लग गई।

'बुंदेलखंड' को निवेश का नया गंतव्य बनाया

'बुंदेलखंड' को निवेश का नया गंतव्य बनाया  संदीप मिश्र  लखनऊ। कभी पिछड़े क्षेत्र के रूप में पहचान रखने वाले बुंदेलखंड को योगी सरकार न...