गुरुवार, 21 अप्रैल 2022

प्रयागराज: वृहद अप्रेंटिस मेले का उद्घाटन किया

प्रयागराज: वृहद अप्रेंटिस मेले का उद्घाटन किया     

बृजेश केसरवानी                 
प्रयागराज। राजकीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान नैनी में गुरूवार को व्यवसायिक शिक्षा एवं कौशल विकास विभाग उत्तर प्रदेश एवं भारत सरकार द्वारा आयोजित वृहद अप्रेंटिस मेले का उद्घाटन मुख्य अतिथि सुरेश कुमार त्रिपाठी विधायक शिक्षक द्वारा दीप प्रज्ज्वलित कर किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता पीयूष रंजन निषाद विधायक करछना द्वारा किया गया। अप्रेंटिसशिप मेले में 2000 युवकों के सापेक्ष 800 बच्चों का चयन किया गया। मुख्य विकास अधिकारी ने सरकार द्वारा अप्रेंटिसशिप मेले के आयोजन क्यों रखा गया है। लेकिन, प्रकाश डाला और आये हुए अधिष्ठनों के प्रतिनिधियों को मेले के सफल आयोजन में भाग लेने के लिए धन्यवाद प्रदान किया। मुख्य अतिथि सुरेश कुमार त्रिपाठी ने अप्रेंटिसशिप मेला में अधिक से अधिक बच्चों के आने पर खुशी जताई और बताया कि आईटीआई प्रशिक्षण के बाद सरकार बच्चों को नियोजित करने का एक रास्ता खोला है और आप सभी बच्चे कंपनियों में कार्य कर एक कुशल कारीगर बनकर भारत में आत्मनिर्भर होकर देश का गौरव बढ़ाएंगे। 
दीप प्रज्वलन के समय मुख्य विकास अधिकारी शिपू गिरि, गौतम गिरी सहायक श्रम आयुक्त निदेशक, अमित कुमार द्विवेदी सहायक निदेशक प्रशिक्षण एवं सेवायोजन निदेशालय उत्तर प्रदेश लखनऊ, अजय कुमार चैरसिया जिला उपायुक्त उद्योग एवं प्रोत्साहन विभाग प्रयागराज , रत्नाकर अस्थाना क्षेत्रीय सेवायोजन अधिकारी प्रयागराज, एलबीएस यादव संयुक्त निदेशक भारत सरकार, दीपू जयसवाल भारत पार्षद नगर निगम, संयुक्त निदेशक मुकेश कुमार यादव , नोडल प्रधानाचार्य एसके श्रीवास्तव, उप प्रधानाचार्य एसके गुप्ता, पीसी सिंह व अमृतलाल साहू मीडिया प्रभारी, विनोद कुमार कुशवाहा सुरक्षा प्रभारी, सुरेश कुमार प्रधानाचार्य आईटीआई कटरा, मिश्रीलाल, रामबाबू कार्य देशक आईटीआई आदि उपस्थित थे। पूरे जनपद के राजकीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान के समस्त कर्मचारियों ने मेले को सुचारू रूप से संपन्न कराने में सहयोग प्रदान किया।

जिला स्तरीय सलाहकार समिति की बैठक आयोजित

जिला स्तरीय सलाहकार समिति की बैठक आयोजित  

बृजेश केसरवानी               
प्रयागराज। जिलाधिकारी संजय कुमार खत्री की अध्यक्षता में जिला स्तरीय सलाहकार समिति की बैठक संगम सभागार में आयोजित की गई। बैठक में जिलाधिकारी ने उप निदेशक कृषि से जानकारी ली कि जितने किसानों के क्लेम थे, उसके सापेक्ष कितने निस्तारित किये गये। उन्होंने स्पष्ट रूप से सभी बैंक के प्रबन्धकगणों को निर्देशित किया कि जो भी क्लेम आये है, उसकी जांच कर दो दिनों में निस्तारण सुनिश्चित किया जाये। उन्होंने किसान क्रेडिट कार्ड की अद्यतन स्थिति की जानकारी लेते हुए कहा कि जिन बैंकों के द्वारा रूचि नहीं ली जा रही है।
उनकों स्पष्टीकरण के साथ-साथ 2 दिनों के अन्दर पूर्ण कराये जाने के निर्देश दिये है तथा पीएम किसान निधि से जो भी किसान भाई लाभान्वित होते है, उनकों केसीसी का लाभ अवश्य दिया जाये। उन्होंने स्पष्ट रूप से निर्देश दिया है कि जिन भी बैंकों का लम्बित प्रकरण है, उसे अवश्य ठीक कराये, नही तो कार्यवाही सुनिश्चित की जायेगी। उन्होंने कहा कि किसानों के साथ ही अन्य लोगो के लिए सरकार द्वारा जो भी योजनाएं संचालित की जा रही है। कार्यों में लापरवाही या उदासीनता कतई क्षम्य नहीं होगा। ग्रामीण बैंक, स्टेट बैंक आफ इण्डिया, बैंक आफ बड़ौदा और पंजाब नेशनल बैंक के प्रबन्धकगणों से स्पष्टीकरण तलब की है तथा सख्त निर्देश दिया है कि जिन भी बैंको का अभी तक लम्बित प्रकरण है, उसे प्राथमिकता पर निस्तारण सुनिश्चित करें। इस अवसर पर एडीएम वित्त एवं राजस्व जगदम्बा सिंह, उप निदेशक कृषि  विनोद कुमार, बैंक के एलडीएम सहित बैंको के प्रबन्धकगण उपस्थित रहे।

राजनीति: प्रमोद कुुमार मौर्य का सपा से इस्तीफा

राजनीति: प्रमोद कुुमार मौर्य का सपा से इस्तीफा    

संदीप मिश्र            
लखनऊ। 18वीं विधानसभा के गठन के लिए हुए चुनाव के दौरान राज्य की सत्ता पर दावेदारी जता रही समाजवादी पार्टी में अब सब कुछ ठीक-ठाक नहीं दिखाई दे रहा है। चाचा शिवपाल यादव एवं पूर्व मंत्री आजम खान की बगावत के बीच स्वामी प्रसाद मौर्य के भतीजे प्रमोद कुुमार मौर्य, साइकिल से उतरकर अलग हो गए हैं और उन्होंने समाजवादी पार्टी से इस्तीफा दे दिया है। पार्टी मुखिया को भेजे इस्तीफे में प्रदेश सचिव ने कई गंभीर आरोप लगाए हैं। 
अखिलेश सपा के प्रदेश सचिव प्रमोद मौर्य साईकिल की सवारी छोडकर समाजवादी पार्टी को टाटा बॉय बॉय कहते हुए अलग हो गये है। समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव को भेजे अपने इस्तीफे में प्रमोद मौर्य ने कई गंभीर आरोप लगाने के साथ साथ सपा में मौर्य, कुशवाहा, शाक्य, सैनी, समाज की उपेक्षा का आरोप लगाया है। ऐसे में बड़ा सवाल यह भी उठ रहा है कि क्या देर सबेर स्वामी प्रसाद मौर्य भी अखिलेश यादव का साथ छोड़ देंगे ?
भाजपा को मिट्टी में मिला देने का दावा करते हुए सपा में शामिल हुए स्वामी प्रसाद मौर्य खुद अपनी सीट भी नहीं जीत पाए। उन्हें फाजिलनगर से हार का सामना करना पड़ा। अक्सर बड़बोले बयानों की वजह से सुर्खियों में रहने वाले स्वामी प्रसाद मौर्य चुनाव नतीजों के बाद से ही खामोश हैं।

'एफपीओ' की योजना, अभूतपूर्व क्रांति का सूत्रपात

'एफपीओ' की योजना, अभूतपूर्व क्रांति का सूत्रपात   

अकांशु उपाध्याय       

नई दिल्ली। कृषि मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने गुरुवार को कहा कि देश में दस हजार किसान उत्पादक संगठन (एफपीओ) बनाने की योजना, कृषि के क्षेत्र में अभूतपूर्व क्रांति का सूत्रपात है। जिसके माध्यम से, बुआई से बाजार तक किसानों को सक्षम बनाकर उनकी आमदनी बढ़ाना इस योजना का मुख्य उद्देश्य है।

तोमर ने एफपीओ योजना को सुचारू रूप से लागू करने के संबंध में क्लस्टर आधारित व्यावसायिक संगठनों (सीबीबीओ) का राष्ट्रीय सम्मेलन को सम्बोधित करते हुए कहा कि एफपीओ से किसानों को समृद्ध बनाने के लिए सीबीबीओ को हर जतन करना होगा। एफपीओ की परिकल्पना तब पूरी होगी, जब इसके बनने के बाद उसका लाभ किसानों को मिलने लगे तथा केसर की तरह उसकी खुशबू फैले और सारे किसान कहें कि हमें भी एफपीओ से जोड़िए।

22 को 48वें 'एआईपीएससी' का उद्घाटन करेंगे शाह

22 को 48वें 'एआईपीएससी' का उद्घाटन करेंगे शाह  


मनोज सिंह ठाकुर       

भोपाल। केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह, शुक्रवार ( 22 अप्रैल) को पुलिस अनुसंधान और विकास ब्यूरो (बीपीआर ऐंड डी) द्वारा यहां आयोजित किए जा रहे 48वें अखिल भारतीय पुलिस विज्ञान कांग्रेस (एआईपीएससी) का उद्घाटन करेंगे। बीपीआर ऐंड डी में अनुसंधान और सुधारक प्रशासन की निदेशक अनुपमा नीलेकर चंद्रा ने बताया कि यह दो दिवसीय कार्यक्रम भोपाल स्थित पुलिस प्रशिक्षण केंद्रीय अकादमी (सीएपीटी) में आयोजित किया जा रहा। 

उन्होंने कहा, इस प्रतिष्ठित राष्ट्रीय कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य विभिन्न पुलिस बलों, इकाइयों, सामाजिक वैज्ञानिकों, फॉरेंसिक विशेषज्ञों और अन्य हितधारकों को भारतीय पुलिस के लिए चुनिंदा हित के विषयों पर विचार-विमर्श करने के लिए साझा मंच प्रदान करना है। चंद्रा ने बताया कि पहली बार एआईपीएससी में पुलिस बल, इकाइयां, समाजिक वैज्ञानिक, फॉरेंसिक विशेषज्ञ अैर हितधारककों के साथ-साथ सुधारक प्रशासन विभाग के अधिकारी भी हिस्सा लेंगे।

22.65 लाख रुपये की ठगी, घोड़े को काला रंग किया

 22.65 लाख रुपये की ठगी, घोड़े को काला रंग किया 

अमित शर्मा 
चंडीगढ़। पंजाब के संगरूर से ठगी का हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां लाल रंग के घोड़े को काला रंग करके 22.65 लाख रुपये की ठगी करने का मामला सामने आया है। एक अन्य मामले में भी अच्छी नस्ल के घोड़े दिखाने के बाद सामान्य घोड़े भेजकर 37.41 लाख ठगने का मामला सामने आया है। पहला केस थाना सिटी सूनाम का है। यहां ठगी का शिकार हुए रमेश कुमार ने बताया कि वह वार्ड नंबर-14 मोहल्ला हरचरन नगर लहरागागा में रहते हैं‌। 
उन्हें जतिंदरपाल सिंह सेखों निवासी सुंदर सिटी सुनाम, लखविंदर सिंह निवासी सिंहपुरा सुनाम व लचरा खाना उर्फ गोगा खान निवासी लेहल कलां ने मिलीभगत करके लाल रंग का घोड़ा बेचा। उन्होंने उसे घर जाकर नहलाया तो घोड़े का काला रंग निकल गया।

ट्रेन में सफर कर रहीं महिलाओं को कांस्टेबल सुरक्षा

ट्रेन में सफर कर रहीं महिलाओं को कांस्टेबल सुरक्षा   

संदीप मिश्र       
बरेली। ट्रेन में अकेले सफर कर रहीं महिलाओं को अब जरा भी चिंता करने की जरूरत नहीं है। उनकी सुरक्षा के लिए महिला सिपाही कमांडो बनकर काम करेंगी। ट्रेन में छेड़छाड़ की घटनाओं पर लगाम लगाने के लिए एसपी अर्पणा गुप्ता ने अभियान शुरू किया है। अब ट्रेन में सफर कर रही महिलाओं को जीआरपी की महिला कांस्टेबल सुरक्षा देंगी। पिछले दिनों उत्तर रेलवे के बरेली जंक्शन से गुजरने वाली पद्मावत एक्सप्रेस में शराब में धुत दो एयरफोर्स कर्मी और एक अन्य व्यक्ति ने महिला यात्रियों से छेड़छाड़ की थी। 
महिला यात्रियों ने विरोध किया। इससे ख़फ़ा हो कर नशे में धुत आरोपियों ने कोच में जमकर हंगामा किया। इसके बाद जीआरपी ने तीनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया। फरार ऐसी ही अन्य घटनाओं को रोकने के लिये एसपी रेलवे आईपीएस अर्पणा जोगेंद्र गुप्ता ने एक कार्ययोजना के तहत महिला पुलिस कर्मियों को बरेली से दिल्ली रुट पर चलने वाली ट्रेनों में सादी वर्दी में तैनात करने का फैसला किया है। यह महिला पुलिस कर्मी आम महिलाओं की तरह भीड़ भाड़ वाले कंपार्टमेंट में सफर करेंगी। महिला कांस्टेबल छेड़छाड़ और अन्य अपराध करने की कोशिश कर रहे असामाजिक  सिखाएंगी। एसपी अर्पणा गुप्ता ने बताया कि ऐसे ट्रेनें चिन्हित कर रहे है, जिसमें स्कूल-कॉलेज जाने वाली बच्चियां सफर करती हैं और उन्हें कोई परेशान करने की कोशिश करता है। एसपी अपर्णा गुप्ता ने कहा, 'देखा गया है कि बच्चियां ऐसे मामलों की शिकायत नहीं करती क्योंकि उन्हें रोज उस रास्ते से जाना होता है, लेकिन अब हम खुद प्रेरित कर ऐसे मामलों में कंप्लेंट करने के लिए कहेंगे। साथ ही अपराध या छेड़छाड़ करने के प्रयास के दौरान ही गुंडों को सबक सिखाया जायेगा।

33 सड़क परियोजनाओं का लोकार्पण-शिलान्यास

33 सड़क परियोजनाओं का लोकार्पण-शिलान्यास    

दुष्यंत टीकम          
रायपुर। केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी एवं मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बृहस्पतिवार को समारोह में छत्तीसगढ़ में 9240 करोड़ रूपए लागत की 33 सड़क परियोजनाओं का लोकार्पण एवं शिलान्यास किया। इस कार्यक्रम को संबोधित करते हुए गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू ने माता कौशल्या की धरा पर केंद्रीय मंत्री का स्वागत करते हुए राज्य में सड़कों के निर्माण के प्रगति की जानकारी देते हुए बताया कि राज्य को मिले सभी कामों को तेजी से पूरा करने का प्रयास किया जा रहा है। 
पदमश्री डॉ. दमयंती बेसरा गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू ने कहा, नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में सड़कों का तेजी से काम किया जा रहा है। मुख्यमंत्री हर महीने इसकी समीक्षा करते हैं। इस बीच गृहमंत्री ने बालोद गुंडरदेही को राष्ट्रीय मार्ग घोषित करने का आग्रह किया। इसके साथ ही भारत माला परियोजना के मुआवजा में अंतर का मुद्दा उठाते हुए सभी किसानों को एक समान मुआवजा देने का आग्रह किया।

'स्पेशलिस्ट कैडर ऑफिसर' पदों के लिए अधिसूचना

'स्पेशलिस्ट कैडर ऑफिसर' पदों के लिए अधिसूचना   

अकांशु उपाध्याय         
नई दिल्ली। भारतीय स्टेट बैंक ने स्पेशलिस्ट कैडर ऑफिसर पदों के लिए ऑनलाइन आवेदन आमंत्रित करते हुए भर्ती अधिसूचना जारी की है। इसके लिए रजिस्ट्रेश प्रक्रिया 13 अप्रैल से शुरू हो चुकी है। आवेदक 04 मई तक आवेदन कर सकते है।
उम्मीदवार केवल एक पद के लिए आवेदन कर सकते हैं। इच्छुक उम्मीदवार बैंक की आधिकारिक वेबसाइट sbi.co.in के माध्यम से ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं। बैंक में कुल 11 रिक्त पद भरे जाएंगे।
उपाध्यक्ष (वाइस प्रेसिडेंट) और प्रमुख (हेड) (संपर्क केंद्र परिवर्तन) - 1 पद।
वरिष्ठ विशेष कार्यकारी कार्यक्रम प्रबंधक संपर्क केंद्र (Senior Special Executive Program Manager Contact Centre) - 04 पद
सीनियर स्पेशल एग्जीक्यूटिव कस्टमर एक्सपीरियंस, ट्रेनिंग एंड स्क्रिप्ट्स मैनेजर (इनबाउंड और आउटबाउंड) - 02 पद।

ब्राजील: 2 लिंग वाला बच्चा पैदा होने का मामला

ब्राजील: 2 लिंग वाला बच्चा पैदा होने का मामला    

अखिलेश पांडेय       

ब्रासीलिया। ब्राजील में दो लिंग वाला बच्चा पैदा होने का दुर्लभ मामला सामने आया है। यह एक तरह की जेनेटिक परेशानी है। चिकित्सा विज्ञान में इसे डाइफेलिया कहते हैं, जिसका मतलब है शरीर में दो लिंग होना। चिकित्सकों के अनुसार ऐसा दस लाख में किसी एक बच्चे को होता है। दुनिया में अब तक ऐसे सिर्फ 100 मामले सामने आए हैं। रिपोर्ट में बताया गया है कि ब्राजील के डॉक्टरों ने इस दुलर्भ मामले को प्रकाशित करवाया है। इस रिपोर्ट में कहा गया है कि कभी-कभी कुछ ऐसे लोग भी जन्म लेते हैं, जिनके पास एक अतिरिक्त लिंग होता है। इस बच्चे के के दोनों लिंग अगल-बगल थे। इसमें एक उम्र के हिसाब से सही आकार में था, जबकि दूसरा बड़ा था।

डॉक्टरों ने बड़ा वाला लिंग काट कर निकला दिया है। इस सर्जरी के वक्त बच्चे की उम्र दो साल थी। सर्जरी में देरी की वजह का रिपोर्ट में जिक्र नहीं है।
डॉक्टरों के अनुसार, शुरुआत में बच्चे के दोनों लिंग एक ही आकार के थे। लेकिन बाद में एक लिंग सामान्य से बड़ा हो रहा था। डॉक्टरों ने देखा कि बच्चा छोटे वाले लिंग से ही पेशाब कर पा रहा है। अंग की सक्रियता और शरीर के साथ अंदरूनी जुड़ाव के आधार पर उन्होंने बड़े वाले लिंग को काटने का फैसला लिया।
दूसरे लिंग की जगह पर टांके लगाकर उस जगह को बंद कर दिया गया है। फिलहाल यह बड़ा सवाल है कि भविष्य में इस छोटे लिंग का इरेक्शन चैंबर काम करेगा या नहीं? डॉक्टर इस मुद्दे पर स्पष्ट नहीं बता पा रहे हैं। उन्होंने इस पूरी प्रक्रिया को मेडिकल स्टडीज के लिए रिकॉर्ड किया है।
इस तरह का एक मामला उज्बेकिस्तान में भी सामने आया था। वहां पर सात साल के बच्चे के पास भी दो लिंग थे। उस बच्चे के दोनों लिंग हर तरह से काम कर रहे थे। तब डॉक्टरों ने बताया था कि इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि उसके पास दो लिंग है, वह सामान्य तरीके से यौन जीवन का आनंद ले सकता है।
हालांकि, रिपोर्ट के मुताबिक दो लिंग होने पर किडनी पर दबाव बढ़ता है और किडनी फेल होने की आशंका बढ़ जाती है। इसका असर रीढ़ की हड्डी पर भी पड़ता है। दरअसल, डाइफेलिया जेनेटिक असमानता की वजह से होता है। गर्भ में भ्रूण के लिंग निर्धारण के दौरान 23वें से 25वें दिन के बीच जीन्स में किसी तरह की कमी होने पर यौन अंगों में विकृति आ सकती है।

रूस के साथ अपना कारोबार बंद करेगी स्टील कंपनी

रूस के साथ अपना कारोबार बंद करेगी स्टील कंपनी 

अकांशु उपाध्याय 
नई दिल्ली। देश की सबसे बड़ी स्टील कंपनी जल्द ही रूस के साथ अपना कारोबार बंद करेगी। के चलते कई ग्लोबल कंपनियों ने रूस में अपना बिजनेस रोका है और टाटा स्टील इस कड़ी में जुड़ने वाली नई ग्लोबल कंपनी है। टाटा स्टील ने एक बयान में साफ किया कि कंपनी रूस में ना तो किसी फैक्टरी को चलाती है, ना ही उसका कोई ऑपरेशन वहां हैं। रूस मे कंपनी के कर्मचारी भी नहीं हैं। रूस में कारोबार बंद करने का निर्णय काफी सोच समझकर किया गया है। फैक्ट्री चलाने और स्टील बनाने के लिए रूस से कोयला आयात करती है। भारत के अलावा कंपनी के स्टील कारखाने ब्रिटेन और नीदरलैंड में है। 
कंपनी का कहना है कि इन कारखानों में आपूर्ति सही रखने के लिए वैकल्पिक बाजारों से कच्चे माल का प्रबंध किया जा रहा है। देश की दूसरी सबसे बड़ी सॉफ्टवेयर कंपनी इंफोसिस ने पिछले हफ्ते ही रूस से बाहर आने की जानकारी दी थी। रूस के यूक्रेन पर आक्रमण  करने के बाद कई देशों ने मॉस्को पर आर्थिक प्रतिबंध लगाए गए हैं। इसके बाद दुनियाभर की कई कंपनियों ने वहां अपनी कारोबारी गतिविधियां बंद की हैं। भारत की भी कई कंपनियों ने इस तरह के फैसले लिए हैं। हालांकि रूस के यूक्रेन पर आक्रमण का विरोध करने के कई आधिकारिक मौकों पर भारत अनुपस्थित रहा। ना ही भारत ने रूस पर किसी तरह के आर्थिक प्रतिबंध लगाए गए हैं। इसे लेकर भारत पर कई पश्चिमी देशों की ओर से लगातार दबाव बना हुआ है।

हड्डियों की सेहत को बनाए रखने के उपाय, जानिए

हड्डियों की सेहत को बनाए रखने के उपाय, जानिए  

सरस्वती उपाध्याय         
हड्डियां शरीर के लिए कई महत्वपूर्ण भूमिकाएं निभाती हैं। जैसे शरीर को स्ट्रक्चर प्रदान करना, अंगों की रक्षा करना, मांसपेशियों को सपोर्ट करना, कैल्शियम स्टोर करना आदि‌। बचपन से ही मजबूत और स्वस्थ हड्डियों का निर्माण करना महत्वपूर्ण है। आप वयस्कता में भी हड्डियों की सेहत को बनाए रखने के उपायों को आजमा सकते हैं। हालांकि, प्रॉपर देखभाल, एक्सरसाइज, वेट मैनेज, हेल्दी डाइट आदि का सेवन करें, तो हड्डियां मजबूत बनी रह सकती हैं। 
आजकल लोगों में 30-35 की उम्र से ही हड्डियों में दर्द, जोड़ों में दर्द, अर्थराइटिस, हड्डियां जल्दी फ्रैक्चर होने की समस्या आम होती जा रही है। उम्र बढ़ने के साथ हड्डियों का घनत्व कम होने लगता है, जिससे हड्डियां दर्द करने लगती हैं, कमजोर हो जाती हैं। बुजुर्गावस्था में ऑस्टियोपोरोसिस होने की संभावना बढ़ जाती है।लंबी उम्र तक हड्डियों को स्वस्थ रखना है, तो इन बातों का ध्यान रखें।

हड्डियों की सेहत कैसे होती है खराब ?
रिपोर्ट के अनुसार, कई तरह के कारक हड्डियों की सेहत को प्रभावित करते हैं। आपकी डाइट में कैल्शियम की मात्रा कितनी है, आप कितना फिजिकल एक्टिविटी करते हैं। धूम्रपान और शराब का सेवन कितना करता है।शरीर में हार्मोन लेवल कितना है। यदि बहुत ज्यादा थायरॉएड हार्मोन होगा, तो बोन लॉस होने की संभावना महिलाओं में अधिक होती है। फूड इनटेक कम करना, ईटिंग डिसऑर्डर और हद से ज्यादा वजन कम होने से भी हड्डियां कमजोर हो जाती हैं। कुछ खास तरह की दवाओं के सेवन से भी हड्डियां धीरे-धीरे कमजोर होने लगती हैं। 

कैल्शियम जरूर करें डाइट में शामिल....

कैल्शियम के सेवन से भी हड्डियां मजबूत रहती हैं। 19 से 50 वर्ष की आयु के वयस्कों और 51 से 70 वर्ष की आयु के पुरुषों को प्रतिदिन 1,000 मिलीग्राम कैल्शियम की जरूरत होती है। वहीं, 51 वर्ष की उम्र की महिलाओं और 71 वर्ष और उससे अधिक उम्र के पुरुषों के लिए 1,200 मिलीग्राम कैल्शियम की जरूरत होती है।कैल्शियम का मुख्य स्रोत डेयरी प्रोडक्ट्स, बादाम, ब्रोकली, केल, सार्डिन्स, सोया प्रोडक्ट्स जैसे टोफू आदि हैं।

विटामिन- डी की कमी ना होने दें...
कैल्शियम को एब्जॉर्ब करने के लिए शरीर को विटामिन डी की जरूरत होती है। ऐसे में विटामिन डी का सेवन प्रतिदिन बहुत जरूरी है। विटामिन- डी के मुख्य स्रोत हैं ऑयली फिश जैसे टूना, सैल्मन, व्हाइटफिश, मशरूम, अंडा, फोर्टिफाइड फूड्स जैसे दूध, अनाज आदि. इनके अलावा, विटामिन- डी का सबसे जरूरी सोर्स है धूप, इसलिए सुबह में कम से कम 10 से 15 मिनट धूप में जरूर बैठें‌।

डेली रूटीन में फिजिकल एक्टिविटी हो शामिल...

वजन कम करने वाले एक्सरसाइज जैसे चलना, टहलना और सीढ़ियां चढ़ना-उतरना आपको मजबूत हड्डियां बनाने और बोन लॉस को धीमा करने में में मदद कर सकते हैं।

स्मोकिंग और एल्कोहल का सेवन करें कम...
हड्डियों को स्वस्थ रखने के लिए धूम्रपान न करें।महिलाओं को प्रतिदिन एक से अधिक गिलास शराब का सेवन नहीं करना चाहिए। वहीं, पुरुषों को एक दिन में दो से अधिक पेग शराब पीने से बचना चाहिए।

सब्जियां खाएं हड्डियों को मजबूत बनाएं...
चाहते हैं लंबी उम्र तक आपको घुटनों में दर्द ना हो, आराम से चल-फिर सकें, दौड़ सकें, तो आज से ही डाइट में हर तरह की सब्जियों को शामिल करना शुरू कर दें। सब्जियां हड्डियों के लिए बहुत फायदेमंद होती हैंं। इनमें विटामिन सी होता है, जो हड्डियों को फॉर्म करने वाली कोशिकाओं के निर्माण को बढ़ाता है। विटामिन सी का एंटीऑक्सीडेंट प्रभाव हड्डियों की कोशिकाओं को क्षतिग्रस्त होने से बचाते हैंं। साथ ही सब्जियां हड्डियों की घनत्वता को भी बढ़ाती हैं।

नमक का सेवन सीमित करें...
नमक का सेवन बहुत अधिक ना करें‌। आजकल लोग जंक फूड्स, चिप्स, पिज्जा, बर्गर, चीज, प्रॉसेस्ड फूड्स आदि चीजों का सेवन अधिक करते हैंं। इनमें नमक अधिक होता है। कुछ लोग भोजन में ऊपर से भी नमक डाल लेते हैं, ऐसा करने से हड्डियों को नुकसान पहुंच सकता है। सीमित मात्रा में नमक का सेवन करेंगे तो ब्लड प्रेशर भी हाई नहीं होगा। साथ ही सोडा ड्रिंक्स और कैफीन भी अधिक लेना बोन हेल्थ के लिए हानिकारक होता है। इनमें फॉस्फोरस होता है, जो हड्डियों के लिए सही नहीं होता है।

विटामिन-डी का सबसे अच्छा स्रोत हैं सूर्य की रोशनी

विटामिन-डी का सबसे अच्छा स्रोत हैं सूर्य की रोशनी  

सरस्वती उपाध्याय         
हमारी बेहतर सेहत के लिए कई प्रकार के पोषक तत्वों की दैनिक आवश्यकता होती है। विटामिन-डी उनमें से एक है। सूर्य की रोशनी को विटामिन-डी का सबसे अच्छा स्रोत माना जाता है। यही कारण है कि सभी लोगों को रोजाना सुबह की हल्की धूप में वॉक करने की सलाह दी जाती है। सूर्य की रोशनी सिर्फ विटामिन-डी के लिए ही नहीं, शरीर के लिए कई अन्य प्रकार से भी लाभदायक मानी जाती है। रोजाना सूर्य के प्रकाश में कुछ समय बिताने की आदत आपके सेहत को गजब का बूस्ट दे सकती है। आइए सूर्य के प्रकाश से होने वाले विभिन्न स्वास्थ्य लाभ के बारे में विस्तार से जानते हैं...

हड्डियों के लिए फायदेमंद...
हड्डियों को स्वस्थ रखने के लिए विटामिन-डी की आवश्यकता होती है। सूर्य की रोशनी इसका सबसे अच्छा स्रोत मानी जाती है। विटामिन-डी शरीर में कैल्शियम की उचित मात्रा बनाए रखने में सहायक है, ऐसे में सूर्य की रोशनी के संपर्क में रहना आपके लिए विशेष लाभप्रद हो सकता है। कैल्शियम, हड्डियों को मजबूत करने, पतले होने और आसानी से टूटने से बचाने में सहायक है।

मूड विकारों को कम करती है...
सूर्य की रोशनी का संपर्क आपके मूड को बेहतर बनाए रखने में सहायक है। धूप, आपके शरीर में सेरोटोनिन के स्तर को बढ़ाती है। सेरोटोनिन, एक न्यूरोट्रांसमीटर है जो मूड को खुश रखने में मददगार मानी जाती है। मन को शांत रखने और ध्यान केंद्रित करने में इसका लाभ है।
सूर्य की रोशनी के संपर्क में रहना शरीर की इम्युनिटी सिस्टम को बढ़ावा देने में काफी मददगार हो सकता है। विटामिन-डी हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली के लिए महत्वपूर्ण है, और सूरज की रोशनी के लगातार संपर्क में रहने से आप इसे बेहतर बनाए रखने में सफल हो सकते हैं। स्वस्थ प्रतिरक्षा प्रणाली सर्जरी के बाद बीमारी, संक्रमण, कुछ प्रकार के कैंसर, कोरोना संक्रमण आदि के जोखिम को कम करने में मदद कर सकती है।

व्हाट्सएप का नया फीचर, क्रिएट ग्रुप शॉर्टकट

व्हाट्सएप का नया फीचर, क्रिएट ग्रुप शॉर्टकट   

अकांशु उपाध्याय 
नई दिल्ली। व्हाट्सएप अपने ग्लोबल यूजर्स के चैटिंग एक्सपीरियंस को पहले से और बेहतर बनाने के लिए नए-नए फीचर लाता रहता है। इसी कड़ी में अब कंपनी व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ा एक बेहद सुविधाजनक और काम का फीचर लाई है। इस फीचर का नाम क्रिएट ग्रुप शॉर्टकट हैं। नए फीचर की मदद से यूजर किसी भी कॉन्टैक्ट के साथ शॉर्टकट के जरिए तुरंत ग्रुप बना सकते हैं। रिपोर्ट के अनुसार, क्रिएट ग्रुप शॉर्टकट का ऑप्शन यूजर्स को कॉन्टैक्ट इन्फो सेक्शन में मिलेगा। बताया जा रहा है कि शॉर्टकट पर टैप करने के साथ ही वॉट्सऐप ऑटोमैटिकली उस कॉन्टैक्ट को एक नया ग्रुप बनाने के लिए ऐड कर लेगा। 
यह ग्रुप तुरंत नहीं नहीं क्रिएट होगा क्योंकि इसके लिए आपको इसमें और मेंबर्स को भी ऐड करना होगा। यह शॉर्टकट आपको तभी नजर आएगा, जब आपका और उस कॉन्टैक्ट का कोई कॉमन ग्रुप होगा। ऐंड्रॉयड बीटा वर्जन 2.22.9.13 के लिए रोलआउट कर रही है। ऐसे में यह अभी ज्यादा यूजर्स तक नहीं पहुंच पाया है। बग फिक्स के बाद कंपनी आने वाले कुछ हफ्तों में इसके स्टेबल अपडेट को रोलआउट कर सकती है। कुछ दिन पहले कंपनी ने कुछ बीटा टेस्टर्स के लिए ऐप लैंग्वेज को चेंज करने का फीचर रोलआउट किया था। हालांकि, अब इसे कुछ वजहों के कंपनी ने डिसेबल कर दिया है। माना जा रहा है कि ऐप लैंग्वेज चेंज करने वाले इस फीचर में कुछ खामियां हैं, जिन्हें ठीक करके कंपनी इसे फिर से रिलीज करेगी।

आरोपियों के घर को बुलडोजर से ढहाने की कार्रवाई

आरोपियों के घर को बुलडोजर से ढहाने की कार्रवाई    

मनोज सिंह ठाकुर        

भोपाल। मध्य प्रदेश के कई जिलों में जिला प्रशासन अपराधिक प्रकरण दर्ज होने के बाद आरोपियों के घर को बुलडोजर से ढहाने की कार्रवाई कर रहा है। बुलडोजर कार्रवाई के खिलाफ मध्य प्रदेश हाईकोर्ट में जनहित याचिका दायर की गयी थी, जिसे हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस रवि विजय कुमार मलिमथ और जस्टिस पी के कौरव की युगलपीठ ने जनहित का मुद्दा मानने से इंकार करते हुए खारिज कर दिया है।

अधिवक्ता अमिताभ गुप्ता की तरफ से दायर की गयी याचिका में कहा गया था कि प्रदेश के भिन्न जिलों में अपराधिक प्रकरण दर्ज होने पर आरोपियों का घर को तोड़ने की कार्रवाई पुलिस व प्रशासन द्वारा की जा रही है। याचिका के साथ इंदौर, भोपाल, उज्जैन, खरगोन सहित अन्य जिलों की कार्रवाई के संबंध में खबरों की प्रतियां पेश की गयी थी। याचिका में कहा गया था कि सुनवाई का अवसर दिये बिना ही अपराधिक प्रकरण दर्ज आरोपियों के घरों को बुलडोजर से गिराने की कार्रवाई अवैधानिक है।

14 वर्षीय नाबालिग लड़की की हत्या का खुलासा

14 वर्षीय नाबालिग लड़की की हत्या का खुलासा    

संदीप मिश्र        
इटावा। उत्तर प्रदेश के इटावा से 14 वर्षीय नाबालिग लड़की की हत्या का मामला सामने आया है। पुलिस ने मृतक लड़की की मां, चाचा और अन्य आरोपियों को गिरफ्तार किया है। जबकि इस घटना में शामिल अन्य आरोपी फरार बताया जा रहा है। पुलिस ने बताया कि आरोपियों ने हत्या के बाद लड़की का शव नहर में फेंक दिया था‌। जसवंतनगर थाना पुलिस ने शव बरामदगी के आठवें दिन गिरफ्तारी कर घटना का खुलासा किया। यह पूरा मामला ऑनर किलिंग से जुड़ा हुआ था‌। रिश्वत लेते गिरफ्तार पुलिस को पूछताछ में मृतक लड़की की मां ने बताया कि वो दिल्ली में अपने परिवार के साथ रहती थी। 
मोहल्ले में रहने वाले लड़के से उनकी बेटी की दोस्ती हो गई। लड़की को कई बार समझाया पर वो नहीं मानी फिर उसके पिता ने परिवार को गांव भेज दिया। बावजूद इसके दोनों की दोस्ती पर इसका कोई असर नहीं पड़ा और लड़का उससे मिलता रहा।12 अप्रैल को गांव में दोनों को एक साथ देखा गया और इसकी जानकारी लड़की के परिवार को लग गई। बेटी के प्रेमी के साथ भाग जाने और बदनामी के डर ने उन्होंने बेटी की गला घोंटकर हत्या कर दी। शव को मोटरसाइकिल में ले जाकर नहर में फेंक दिया। अप्रैल को जसवंतनगर थाना क्षेत्र के ग्राम भतौरा नहर पुल में पुलिस को पड़ा मिला था। जिसकी शिनाख्त अरविंद धोबी की पुत्री निवासी ग्राम कछपुरा थाना जसवंतनगर के तौर पर हुई थी। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा। जिसमें पता चला कि लड़की की मौत गला घोंटने से हुई है। शव मिलने के कई दिनों बाद 18 अप्रैल को मृतका की मां रेनू देवी द्वारा अभियुक्तगण भागीरथ तथा शिवसागर पता अज्ञात द्वारा लड़की को बहला फुसलाकर भगा ले जाने तथा हत्या करके शव नहर में फेंक देने का मुकदमा दर्ज कराया गया। पर पिता, पुत्र समेत तीन लोगों को मिली उम्रकैद की सजा फोन सर्विलांस और गुप्त सूचना के आधार पर पुलिस को मृतक लड़की के परिजनों पर शक हुआ। लड़की की मां को हिरासत में लेकर पूछताछ की गई और सारा मामला खुलकर सामने आ गया।
पुलिस टीम द्वारा मुखबिर की सूचना के आधार पर विभिन्न स्थानों से मृतका की मां रेनू देवी, चाचा ब्रजेश कुमार पुत्र मनीराम धोबी निवासीगण कछपुरा और चाचा के साथी दलवीर सिंह उर्फ मोटे पुत्र श्याम सिंह जाटव निवासी नगला बेनीसाल थाना जसवंतनगर को गिरफ्तार किया गया। कपिल देव सिंह ने बताया कि जसवंतनगर के भटौरा पुल के नीचे नहर में एक नाबालिग लड़की का शव मिला था। शव का पोस्टमार्टम कराया गया तो पता चला कि गला घोंटकर हत्या की गई है। मृतका की पहचान होने के बाद बी परिजनों ने पुलिस में शिकायत दर्ज नहीं कराई थी। जांच के दौरान पुलिस को हत्या में परिजनों की भूमिका नजर आई। साक्ष्यों के आधार पर मृतक लड़की की मां चाचा और एक अन्य साथी को गिरफ्तार कर लिया गया है। पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि उन्हें डर था कि कहीं उनकी बेटी अपने प्रेमी के साथ भाग न जाए। इसलिए उन्होंने उसकी हत्या कर दी।

चीन: 250 करोड़ साल पुरानी एक्लोगाइट मिलीं

चीन: 250 करोड़ साल पुरानी एक्लोगाइट मिलीं    

सुनील श्रीवास्तव       
बीजिंग। चीन में एक अनोखी चट्टान से ऐसे सबूत मिले हैं, जो बताते हैं कि टेक्टोनिक प्लेट्स में सबडक्शन यानी, खिंचाव, टकराव, घर्षण कोई 250 से 400 करोड़ साल पहले हुआ था। जो चट्टान मिली है, वह 250 करोड़ साल पुरानी एक्लोगाइट है। सबसे पहले यह जान लेते हैं कि ये टेक्टोनिक प्लेट्स होती क्या हैं ? 
पृथ्वी का पतला बाहरी आवरण बड़े टुकड़ों से बना होता है, जिसे टेक्टोनिक प्लेट कहते हैं। यह प्लेट ठोस चट्टान का एक विशाल, अनियमित आकार का स्लैब होता है, जो आम तौर पर महाद्वीप और महासागर के स्थलमंडल दोनों से बना होता है। को पकड़ लिया टेक्टोनिक प्लेट्स को लिथोस्फेयरिक प्लेट भी कहा जाता है। ये प्लेटें पहेलियों की तरह एक साथ फिट होती हैं, लेकिन ये एक जगह पर अटकी नहीं होतीं। ये पृथ्वी के मेंटल  पर तैरती रहती हैं। 
पृथ्वी के क्रस्ट और कोर के बीच की परत को मेंटल कहते हैं। एक्लोगाइट कम तापमान पर समुद्री क्रस्ट के मेंटल में गहराई से धकेले जाने के बाद बनी। इस अध्ययन के शोधकर्ता और चीन यूनिवर्सिटी ऑफ जियोसाइंसेज के पृथ्वी वैज्ञानिक टिमोथी कुस्की और लू वांग का कहना है कि इस तरह की पृथ्वी पर उच्च दबाव और कम तापमान वाली इन चट्टानों को सबडक्शन जोन कहा जाता है। इस अध्ययन से सबसे पुराने एक्लोगाइट का पता चला है जो एक पुराने पर्वतीय क्षेत्र में पृथ्वी के समुद्री क्रस्ट पर मिला। इस तरह की दूसरी सबसे पुरानी चट्टान 210 करोड़ साल पुरानी हैं, जो कांगो लोकतांत्रिक गणराज्य में स्थित हैं। लेकर गए पृथ्वी को गर्म रखने के लिए टेक्टोनिक प्लेट्स काफी अहम होती हैं। पिछले 20 सालों से, रिसर्च टीम ने उत्तरी चीन में करीब 1,600 किलोमीटर तक फैले आर्कियन ईऑन चट्टानों की मैपिंग की है। यह प्राचीन पर्वत श्रृंखला है, जिसे ऑरोजेन कहा जाता है। 
यहां करीब 250 करोड़ साल पहले, दो टेक्टोनिक प्लेटें आपस में टकरा गई थीं। शोधकर्ताओं का कहना है कि इन चट्टानों से पता चलता है कि टेक्टोनिक प्लेटों के रूप में बनी यह प्राचीन पर्वत श्रंखला आपस में काम करती थी। ओपिओलाइट्स  कहे जाने वाले समुद्री क्रस्ट के टुकड़े टकराव वाले क्षेत्र में फंसे हुए हैं। ये बुरी तरह से टूट चुकी चट्टानों का मिश्रण है जिन्हें मेलेन्जेस (Mélanges) कहा जाता है। ये उस जगह के बारे में बताती हैं जहां प्लेटें टकराई थीं। शोधकर्ताओं की टीम को कुछ बड़ी-बड़ी मुड़ी हुई संरचनाएं भी मिली हैं, जिन्हें नैप्स (Nappes) कहा जाता है‌। एक्लोगाइट्स के लैब एनलिसिस से पता चलता है कि वे लगभग 250 साल पहले समुद्री रिज पर बने थे, जो बाद में समुद्र तल पर आ गए‌। इसके बाद ये सबडक्शन से मेंटल में पहुंच गए। यह भी पता चलता है कि ये 792 से 890 डिग्री सेल्सियस तापमान और 19.8 और 24.5 किलोबार प्रति स्वायर इंच के उच्च दबाव में रहे थे। शोधकर्ताओं ने बताया कि ये आंकड़ों से पता चलता है कि एक्लोगाइट्स कम से कम 65 किमी गहरे हैं।

ऐश्वर्या ने बच्चन परिवार का नाम खराब किया

ऐश्वर्या ने बच्चन परिवार का नाम खराब किया      

कविता गर्ग          
मुंबई। बॉलीवुड अभिनेत्री ऐश्वर्या बच्चन, अमिताभ बच्चन फिल्म इंडस्ट्री का एक ऐसा नाम है। जिसे हर कोई बखूबी जानता है। देश ही नहीं, पूरी दुनिया में अमिताभ का नाम आता है। शायद ही कोई ऐसी चीज होगी, जिसकी अमिताभ के पास कमी होगी। वह अपना जीवन बहुत आराम से बिताते है।
अमिताभ बच्चन ने फिल्म इंडस्ट्री को एक से बढ़कर एक हिट फिल्में दी हैं, जिससे उनका काफी सम्मान है। अमिताभ इन दिनों सोशल मीडिया पर छाए हुए हैं, उन्हें अपनी बहू ऐश्वर्या की वजह से बुरी तरह सुनना पड़ रहा है। ऐश्वर्या की हरकतों से अमिताभ का नाम खराब हो रहा है।
ऐश्वर्या राय की गिनती देश की मशहूर अभिनेत्रियों में होती है। अमिताभ जिस तरह से देश ही नहीं, बल्कि पूरी दुनिया में जाने जाते हैं, ऐसा ही ऐश्वर्या के साथ भी है। ऐश्वर्या राय ने अमिताभ बच्चन के बेटे अभिषेक बच्चन से शादी की है। 
लेकिन, फिलहाल अभिनेत्री ऐश्वर्या ने अपनी हरकतों से बच्चन परिवार का नाम खराब किया है। एक बड़ा सच सामने आने के बाद इन दिनों वह थाने के चक्कर लगा रही हैं। ये बात सामने आई है कि ऐश्वर्या की विदेश में संपत्ति के बारे में किसी को पता नहीं था और इसी वजह से वह इन दिनों परेशान हैं। थाने में बुलाकर उनसे भी पूछताछ की जा रही है। जिस वजह से इस समय हर तरफ बच्चन परिवार की चर्चा चल रही है।

‘जयेशभाई जोरदार' को लेकर खबरों में अभिनेता

‘जयेशभाई जोरदार' को लेकर खबरों में अभिनेता   

कविता गर्ग           
मुंबई। बॉलीवुड अभिनेता रणवीर सिंह अपकमिंग फिल्म ‘जयेशभाई जोरदार' को लेकर खबरों में हैं। फिल्म का ट्रेलर हाल ही में रिलीज हुआ, जिसे देखने के बाद दर्शक लोटपोट हो गए‌। रणवीर इनदिनों इस फिल्म के प्रोमोशन में बिजी हैं। वह फैंस और मीडिया के बीच जा कर इसका प्रमोशन कर रहे हैं। इसी बीच एक इवेंट के दौरान रणवीर ने अपने शुरुआती करियर के दिनों को याद किया और बताया वाईआरएफ (YRF) बॉस मैन आदित्य चोपड़ा ने उनके लुक का जिक्र करते हुए उनसे कहा था कि वो ऋतिक रोशन नहीं हैं।
गौरतलब है कि रणवीर सिंह पिछले 11 सालों से एक्टिंग की दुनिया पर राज कर रहे हैं। उन्होंने अब तब बॉलीवुड को ‘बाजीराव मस्तानी’, ‘पद्मावत’, ‘सिम्बा’ , ‘गोलियों की रासलीला राम लीला’ और फिल्म 83 जैसी कई ब्लॉकबस्टर फिल्मों के साथ अपनी पहचान बनाई है। उनकी डेब्यू फिल्म ‘बैंड बाजा बारात’ थी। इस फिल्म में लीड रोल में अनुष्का शर्मा थीं। रणवीर अपने डेब्यू फिल्म से कुछ खास नहीं कर पाए थे। यह 10 दिसंबर 2010 को रिलीज हुई थी।
फिल्म के पोस्टर पर लोगों ने दी थी प्रतिक्रिय)’ ट्रेलर लॉन्चिंग इवेंट के दौरान रणवीर ने याद किया कि जब बैंड बाजा बारात रिलीज होने वाली थी, तो पूरे शहर में उनके और अनुष्का के पोस्टर लगे थे। उस दौरान उन्होंने दो लोगों को पोस्टर पर प्रतिक्रिया देते हुए ये कहते हुए सुना कि वह एक हीरो की तरह नहीं दिखते हैं। कुछ ऐसा ही एक बार आदित्य चोपड़ा ने भी इसी तरह का कमेंट किया था, जब वे अपनी दूसरी मुलाकात के लिए बैठे थे।
आप ऋतिक रोशन नहीं हैं
बॉलीवुड हंगामा की रिपोर्ट के अनुसार,रणवीर सिंह ने कहा , “मेरी पहली फिल्म की रिलीज से पहले, मेरे पोस्टर हर जगह लगाए गए थे। मैं एक फिल्म देखने गया था, जहां मैंने देखा कि मेरे पोस्टर के सामने दो लोग खड़े हैं। मैं रुक गया क्योंकि मैं सुनना चाहता था कि वो क्या कह रहे हैं। वे बोले, ‘यह कौन है। वह हीरो की तरह नहीं दिखता। यह हो गया है।
रणवीर,आदित्य चोपड़ा के उन बातों को याद करते हुए आगे कहा- आदित्य चोपड़ा के साथ मेरी दूसरी मुलाकात थी और उन्होंने कहा, ‘आप ऋतिक रोशन नहीं हैं, इसलिए तुम्हें एक्टिंग पर ध्यान पर फोकस करना चाहिए। खैर, रणवीर ने साबित कर दिया है कि भले ही वह ऋतिक नहीं हैं, लेकिन वह निश्चित रूप से उम्दा अभिनय कर सकते हैं।अब ‘जयेशभाई जोरदार ‘ बात करें तो रणवीर एक खास भूमिका में नजर आने वाले हैं। वह एक गुजराती व्यक्ति की भूमिका में देखे जाएंगे, जिसकी शादी शालिनी पांडे (अर्जुन रेड्डी ) से हुई है, और वह एक बेटी का पिता हैं।
फिल्म में बोमन ईरानी रणवीर के पिता और एक्ट्रेस रत्ना पाठक शाह उनकी मां बनी हुई हैं। ये फिल्म 13 मई को सिनेमाघरों में रिलीज होने के लिए तैयार है। फिल्म की कहानी में लड़का और लड़की के बीच के भेदभाव को दिखाया गया है।

40 सीनियर पुलिस अधिकारियों का तबादला

40 सीनियर पुलिस अधिकारियों का तबादला   

कविता गर्ग             
मुंबई। महाराष्ट्र सरकार की तरफ से बड़ा प्रशासनिक फेरबदल करते हुए 40 सीनियर पुलिस अधिकारियों का तबादला किया गया है। इस सूची में नासिक पुलिस कमिश्नर दीपक पांडेय का नाम भी है। पांडेय की जगह अब जयंत नायकनवरे नासिक के नए पुलिस कमिश्नर होंगे। पिछले कई दिनों से लाउडस्पीकर को लेकर प्रदेश की सियासत काफी गरम है। महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के प्रमुख राज ठाकरे की तरफ से 3 मई तक मस्जिदों पर लगे लाउडस्पीकर को हटाने का अल्टीमेटम दिया तो वहीं महाराष्ट्र सरकार के गृह विभाग ने बड़ा फैसला लेते हुए किसी भी धार्मिक स्थल पर बिना अनुमति लाउडस्पीकर लगाने पर रोक लगा दी। वहीं, सत्ताधारी पार्टी शिवसेना के नेता संजय राउत की तरफ से लाउडस्पीकर को लेकर एक केंद्रीय मसौदा लागू करने की बात कही गई है। लेकिन आपको बीते दिनों का नासिक के कमश्नर की तरफ से जारी किया गया फरमान याद होगा। जब कहा गया कि अज़ान से पहले और बाद में 15 मिनट तक लाउडस्पीकर पर हनुमान चालीसा या भजन न बजाने का आदेश दिया था। अब खबर है कि महाराष्ट्र सरकार की तरफ से अधिकारियों के तबादले वाली लिस्ट में ये आदेश देने वाले कमिश्नर दीपक पांडेय का भी नाम शामिल है।
महाराष्ट्र सरकार की तरफ से बड़ा प्रशासनिक फेरबदल करते हुए 40 सीनियर पुलिस अधिकारियों का तबादला किया गया है। इस सूची में नासिक पुलिस कमिश्नर दीपक पांडेय का नाम भी है। पांडेय की जगह अब जयंत नायकनवरे नासिक के नए पुलिस कमिश्नर होंगे। वहीं नासिक पुलिस कमिश्नर दीपक पांडेय को स्पेशल आईजी बनाकर भेजा गया है। बता दें कि नासिक के कमिश्नर दीपक पांडे ने कहा है कि सभी धार्मिक स्थलों को 3 मई तक लाउडस्पीकर के उपयोग की अनुमति लेने का निर्देश दिया गया था। 3 मई के बाद यदि कोई आदेश का उल्लंघन करता पाया जाता है तो उल्लंघन करने वालों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने की बात करते हुए पांडे ने कहा था कि हनुमान चालीसा या भजन बजाने के लिए अनुमति लेनी पड़ेगी। अज़ान से पहले और बाद में 15 मिनट के भीतर इसकी अनुमति नहीं होगी। मस्जिद के 100 मीटर के दायरे में इसकी इजाज़त नहीं होगी। इस आदेश का उद्देश्य कानून-व्यवस्था बनाए रखना है।
गौरतलब है कि पिछले कई दिनों से लाउडस्पीकर को लेकर प्रदेश की सियासत काफी गरम है। महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के प्रमुख राज ठाकरे की तरफ से 3 मई तक मस्जिदों पर लगे। लाउडस्पीकर को हटाने का अल्टीमेटम दिया है। ऐसा नहीं करके की सूरत में लाउडस्पीकर से मस्जिदों के सामने हनुमान चालीसा बजाने की चेतावनी भी राज ठाकरे की तरफ से दी गई।

पश्चिमी देशों के नियंत्रण में 'यूक्रेन' की सरकार

पश्चिमी देशों के नियंत्रण में 'यूक्रेन' की सरकार     

सुनील श्रीवास्तव          
कीव। यूक्रेन की सरकार पूरी तरह से पश्चिमी देशों के नियंत्रण में है और यूक्रेन एक स्वतंत्र देश की बजाय, एक उपग्रह राज्य की तरह काम कर रहा है।
यह बातें यूक्रेन के एक पूर्व अधिकारी ने रूसी न्यूज एजेंसी स्पूतनिक से कही है। यह अधिकारी रूस द्वारा यूक्रेन में विशेष सैन्य अभियान शुरू किये जाने के बाद एक यूरोपीय देश में चले गए।
उन्होंने कहा, "यूक्रेनी अधिकारी पूरी तरह से पश्चिमी देशों के नियंत्रण में हैं। पश्चिमी पर्यवेक्षकों को बैठकें, वार्ता और रिपोर्ट छुपाई नहीं जाती हैं, बल्कि गर्व के साथ सार्वजनिक की जाती हैं। बेशक, हम केवल अनुमान लगा सकते हैं कि उन बैठकों में विशेष सेवा अधिकारी क्या कह रहे हैं लेकिन हर कोई जानता है कि यूक्रेन की खुफिया पुलिस बहुत समय पहले कठपुतली बन गई थी।
नाम उजागर नहीं करने की शर्त पर उन्होंने बताया कि पश्चिमी देशों के साथ यूक्रेन के अधिकारियों की बातचीत एक प्रांतीय नौकरशाह की रिपोर्ट के समान थी, जबकि "पश्चिमी देशों के अधिकारी अपने जागीरदारों की प्रशंसा करते हैं या उन्हें (यूक्रेनी अधिकारियों को) दंडित करते हैं और भविष्य के लिए यूक्रेन की नीतियों की दिशा की रूपरेखा तैयार करते हैं।

मनोरंजन: फिल्म 'द लेडीकिलर' की शूटिंग प्रारंभ

मनोरंजन: फिल्म 'द लेडीकिलर' की शूटिंग प्रारंभ   

कविता गर्ग           
मुंबई। बॉलीवुड अभिनेता अर्जुन कपूर और भूमि पेडनेकर ने अपनी आने वाली फिल्म 'द लेडीकिलर' की शूटिंग शुरू कर दी है। भूषण कुमार और शैलेश आर सिंह द्वारा निर्मित और अजय बहल द्वारा निर्देशित अर्जुन कपूर और भूमि पेडनेकर अभिनीत फिल्म 'द लेडी किलर' की शूटिंग शुरू कर दी गयी है। हिमाचल प्रदेश के मनाली में इस फिल्म का मुहूर्त शॉट दिया गया। मांगी-किया यह बडा ऐलान सस्पेंस ड्रामा से भरपूर इस फिल्म में निर्माता फैंस को एक छोटे शहर के प्लेबॉय की कहानी से रूबरू कराएंगे। 
इस फिल्म में अर्जुन कपूर एक छोटे शहर के प्ले ब्वॉय का किरदार निभाते हुए दिखाई देंगे। इस फिल्म का निर्माण कर्मा मीडिया एंड एंटरटेनमेंट के साथ मिलकर गुलशन कुमार और टी-सीरीज के बैनर तले किया जा रहा है।

अतिक्रमण ध्वस्त करने की कार्रवाई के प्रति नाराजगी

अतिक्रमण ध्वस्त करने की कार्रवाई के प्रति नाराजगी 

संदीप मिश्र      
लखनऊ। दिल्ली के जहांगीरपुरी इलाके में अतिक्रमण ध्वस्त करने की कार्रवाई के प्रति नाराजगी का इजहार करते हुए बहुजन समाज पार्टी (बसपा) सुप्रीमो मायावती ने कहा कि, धर्म को भी इसके लिये इस्तेमाल करने से सांप्रदायिक सद्भाव को नुकसान होगा। जिसका फायदा देश विरोधी ताकतों को होगा।
मायावती ने गुरूवार को सिल-सिलेवार ट्वीट कर कहा कि सरकार को उन अधिकारियों के खिलाफ भी सख्ती बरतनी चाहिये, जिनके भ्रष्टाचार में अवैध निर्माण हो रहे हैं। दंगे और हिंसा पर कार्रवाई के नाम पर बुलडोजर चलाये जाने से गरीब लोग भी पिस रहे हैं।
उन्होने कहा “ दिल्ली के जहाँगीरपुरी सहित देश के अन्य राज्यों में भी अवैध निर्माण की आड़ में, जो बुलडोजर चलाये जा रहे हैं। जिसमें गरीब लोग भी प्रभावित हो रहे हैं, जबकि सरकार को उन अधिकारियों के विरुद्ध भी सख्ती करनी चाहिये, जिनके भ्रष्टाचार की वजह से ही अवैध निर्माण हो रहे हैं।

राष्ट्रपति भवन में होगा ब्रिटिश पीएम का रस्मी स्वागत

राष्ट्रपति भवन में होगा ब्रिटिश पीएम का रस्मी स्वागत   

अखिलेश पांडेय        
लंदन। ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जाॅनसन भारत की दो दिन की यात्रा पर बृहस्पतिवार को अहमदाबाद पहुंचे।
हवाई अड्डे पर गुजरात के राज्यपाल आचार्य देवव्रत और मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल ने श्री जॉनसन की अगवानी की।
विदेश मंत्रालय के अनुसार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के निमंत्रण पर भारत दौरे पर आए श्री जाॅनसन बृहस्पतिवार में गुजरात में विभिन्न कार्यक्रमों में भाग लेने के बाद रात में राजधानी नई दिल्ली पहुंचेंगे।
शुक्रवार सुबह ब्रिटिश प्रधानमंत्री का राष्ट्रपति भवन में रस्मी स्वागत किया जाएगा। इसके बाद वह राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की समाधि पर श्रद्धांजलि अर्पित करने राजघाट जाएंगे। फिर विदेश मंत्री एस. जयशंकर उनसे मुलाकात करेंगे। पूर्वाह्न 11 बजे वह हैदराबाद हाउस में प्रधानमंत्री मोदी के साथ द्विपक्षीय बैठक में भाग लेंगे।
बैठक में दोनों नेता रोडमैप 2030 के क्रियान्वयन की समीक्षा करने के साथ ही द्विपक्षीय संबंधों के सभी क्षेत्रों में सहयोग बढ़ाने के बारे में विज़न सामने रखेंगे। वे परस्पर हितों को लेकर विभिन्न क्षेत्रीय एवं वैश्विक मुद्दों पर भी विचार-विमर्श करेंगे।
बाद में दोनों देशों के बीच विभिन्न क्षेत्रों में सहयोग बढ़ाने के लिए समझौतों पर हस्ताक्षर किए जाएंगे और दोनों नेताओं के प्रेस वक्तव्य होंगे। श्री जाॅनसन शुक्रवार रात साढ़े दस बजे स्वदेश रवाना हो जाएंगे।

एमसीडी की कार्यवाही पर रोक, स्थिति बरकरार रहेगी

एमसीडी की कार्यवाही पर रोक, स्थिति बरकरार रहेगी  

अकांशु उपाध्याय         
नई दिल्ली। राजधानी के जहांगीरपुरी इलाके में दिल्ली नगर निगम की ओर से अवैध अतिक्रमण के खिलाफ कार्यवाही पर सुप्रीम कोर्ट की ओर से बृहस्पतिवार को बड़ा फैसला सुनाया गया है। जिसके अंतर्गत दिल्ली नगर निगम (एमसीडी) की कार्यवाही पर लगाई गई रोक की स्थिति फिलहाल बरकरार रहेगी। इस मामले को लेकर अब 2 हफ्ते बाद सुनवाई की जाएगी। सुनवाई के दौरान कोर्ट की ओर से यह भी कहा गया है कि अवैध निर्माण आमतौर पर बुलडोजर की सहायता से ही गिराए जाते हैं और पूरे देश में इस प्रकार की कार्यवाही पर रोक नहीं लगाई जा सकती है। 
इसका मतलब उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश में अतिक्रमण के खिलाफ चल रही कार्यवाही पर इस आदेश को कोई असर नही पडेगा।  बुलडोजर बृहस्पतिवार को सुप्रीम कोर्ट की ओर से राजधानी दिल्ली के जहांगीरपुरी इलाके में दिल्ली नगर निगम की और से बीते दिन अवैध अतिक्रमण के खिलाफ की गई कार्रवाई को लेकर बड़ा फैसला सुनाया है। इस मामले को लेकर अदालत की ओर से कहा गया है कि दिल्ली नगर निगम की कार्यवाही पर बीते दिन लगाई गई रोक की स्थिति फिलहाल बरकरार रहेगी। 
अब इस मामले को लेकर 2 हफ्ते बाद सुनवाई की जाएगी, अर्थात 2 हफ्ते तक दिल्ली नगर निगम की ओर से जहांगीरपुरी इलाके में अतिक्रमण के खिलाफ कार्यवाही नहीं की जा सकती है।सुनवाई के दौरान कोर्ट की ओर से यह भी कहा गया है कि अवैध निर्माण आमतौर पर पूरे देश में बुलडोजर की सहायता से ही गिराए जाते हैं, इसलिए पूरे देश में ऐसी कार्यवाही पर रोक नहीं लगाई जा सकती है। उच्चतम न्यायालय की ओर से आज दिए गए फैसले को लेकर फिलहाल यह मतलब लगाया जा रहा है कि बुल्डोजर पर रोक केवल जहांगीरपुरी में चल रही कार्यवाही को लेकर ही है और सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले का उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश समेत पूरे देश में अतिक्रमण के खिलाफ चल रही कार्यवाही पर असर नहीं पड़ेगा।

आजादी के शताब्दी वर्ष के लिए 3 लक्ष्य दिये: पीएम

आजादी के शताब्दी वर्ष के लिए 3 लक्ष्य दिये: पीएम   

अकांशु उपाध्याय 
नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देश के प्रशासनिक अधिकारियों को आजादी के शताब्दी वर्ष के लिए बृहस्पतिवार को तीन लक्ष्य दिये और कहा कि देश की एकता अखंडता को अक्षुण्ण रखते हुए जनसामान्य को नियमों एवं कानूनों के ऐसे बंधनों से मुक्त किया जाना चाहिए। जिससे उनका सामर्थ्य एवं साहस बाधित होता है। मोदी ने आज यहां सिविल सर्विस डे के मौके पर देश के प्रशासन में नवान्वेषण करने वाले अधिकारियों को प्रधानमंत्री लोक प्रशासन पुरस्कार प्रदान किया। इस कार्यक्रम में प्रधानमंत्री कार्यालय, कार्मिक, जनशिकायत, पेंशन राज्य मंत्री डॉ. जितेन्द्र सिंह, कैबिनेट सचिव राजीव गौबा एवं अन्य वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे।
प्रधानमंत्री ने कहा कि आजादी के अमृतकाल के लिए सभी जिलाधिकारियों को अपने कार्यालय में लक्ष्यों को लिख कर दीवार पर लगाना चाहिए। जिन्हें आजादी के शताब्दी वर्ष 2047 तक हासिल करना है। उन्होंने कहा कि हर देशवासी प्रशासिक अधिकारियों को आशा एवं आकांक्षा से देख रहा है। सरदार वल्लभ भाई पटेल ने जो प्रेरणा दी, संकल्प दिया और प्रेरित किया था, हमें आज फिर उसे दोहराना है।
श्री मोदी ने कहा कि आजादी के अमृतकाल में हमारे सामने तीन लक्ष्य होने चाहिए। हमें सोचना चाहिए कि आखिर देश में यह पद, व्यवस्था, प्रतिष्ठा, ये तामझाम किस बात के लिए है। उन्होंने कहा कि हमारा पहला लक्ष्य होना चाहिए कि पहला लक्ष्य सामान्य से सामान्य मानव के जीवन में बदलाव आये सुगमता आये और उसे अहसास भी हो
रोजमर्रा के जीवन में सरकार से सामान्य मानव के जो सरोकार हों, उसे पाने के लिए कोई समस्या नहीं आये। उसे अपने सपने को संकल्प और संकल्प को सिद्धि तक ले जाने का रास्ता स्वाभाविक एवं सुगम लगना चाहिए। इस काम में हमें उसका हाथ पकड़ कर चलने वाला साथी बनना चाहिए।
प्रधानमंत्री ने कहा कि दूसरा लक्ष्य यह हो कि भारत आज वैश्वीकरण के केन्द्र में आ रहा है तो हमारे हर काम को वैश्विक संदर्भ में देखा जाना चाहिए। आज हम जो भी करें उसे वैश्विक संदर्भ में देख कर करें, यह समय की मांग है।
भारत को भविष्य में कहां जाना है, यह सोच कर बढ़ना है। हम जो करें, उसमें नवीनता हो। हमारी व्यवस्था, नियमों एवं परंपरा में परिवर्तन पल पल के हिसाब से हो।
उन्होंने कहा कि हमारा तीसरा लक्ष्य सिविल सेवा का सबसे बड़ा एवं महत्वपूर्ण काम है। प्रशासनिक अधिकारी किसी भी व्यवस्था में काम करें। उसमें ध्यान रखें कि देश की एकता एवं अखंडता से कोई समझौता नहीं हो। राजनीतिक रूप से आकर्षक लगने वाले बड़े से बड़े काम को इस तराजू से तौलना चाहिए कि उसका देश की एकता अखंडता पर दूरगामी दुष्प्रभाव तो नहीं पड़ेगा। इतना ही नहीं, हमारा कोई भी काम देश की एकता को अखंडता को मजबूत करने वाला होना चाहिए। उन्होंने कहा, “मैं राजनीति से दूर जननीति से जुड़ा सामान्य मानविकी हूं।”
उन्होंने कहा कि लोकतंत्र में विचारधाराएं अलग अलग हो सकतीं हैं।लेकिन प्रशासन के केन्द्र में देश की एकता अखंडता को आगे रख कर काम करना होगा। हमारे हर काम ये कसौटी यह होनी चाहिए, राष्ट्र प्रथम। उन्होंने प्रशासनिक अधिकारियों से सचेत किया कि वे सरकार की नीतियोे में उनके जिले के लिए आवश्यक जरूरत को स्वविवेक से उठायें। इसके लिए उन्हें अलग से निर्देशों की जरूरत नहीं है।
उन्होंने कहा कि भारत की महान संस्कृति की विशेषता है, हमारा देश राज्य व्यवस्था अथवा राजसिंहासनों से नहीं बना है। यह देश हजारों साल से परंपरा रही है और यह जनसामान्य के साथ बढ़ा है। आज भी हमें जो मिला है, वह जनभागीदारी से मिला है। जनता ने ही अपने जीवन से काल बाह्य चीजों को निकाल दिया है। उन्होंने कहा कि प्रशासन में हरेक को समाज में सहज होने परिवर्तन की अगुवाई करना होगा। उन्हें सोचना होगा कि ये नियमों कानूनों के बंधन क्या उसके साहस को सामर्थ्य को प्रभावित कर रहे हैं तो समय के साथ चलने का शक्ति खो जाएगी।
उन्होंने उदाहरण दिया कि देश के सूचना प्रौद्योगिकी (आईटी) सेक्टर के नौजवानों ने देश की छवि बनाने का काम किया है। अगर नियम कानूनों से जकड़ दिया होता तो वे आगे नहीं बढ़ पाते। इसी तरह से स्टार्ट अप्स के बारे में बात करें तो 2022 के पहले तिमाही में 14 यूनीकॉर्न की जगह प्राप्त कर ली। केवल तीन माह में 14 यूनीकॉर्न बन जाना बताता है कि शासन व्यवस्था के बाहर भी सामर्थ्य बहुत है। इसी प्रकार से कृषि क्षेत्र में हमारे किसान आधुनिकता की ओर जा रहे हैं।
प्रधानमंत्री ने कहा, “मेरी दृष्टि में लाखों लोगों में चेतना होनी चाहिए, सामर्थ्य होना चाहिए। मैं पल पल को जीना चाहता हूं, जीकर औरों को जीने की प्रेरणा देना चाहता हूं।” उन्होंने सवाल किया कि शासन में सुधार हमारा सहज स्वभाव बना है क्या ?” उन्होंने कहा कि शासन में समयानुकूल बदलाव सहज नित्य प्रयोगशील प्रक्रिया होनी चाहिए। देश की आशा आकांक्षा मजबूर कर रही है। जब तक देश की आशा आकांक्षा को नहीं समझेंगे तो शासन में समयानुकूल बदलाव नहीं कर पाएंगे।
उन्होंने अधिकारियों का आह्वान किया कि इलैक्ट्रॉनिक प्रणालियाें के आने के बाद बहुत तरह से कम्प्लायंस के लिए पुराने तरीके बदलें। उन्होंने कहा कि जितना हम नागरिक को कंप्लायंस के दबाव से मुक्त करेंगे उतना हमारा नागरिक खिलेगा। उन्होंने कहा कि एक समय था, हम अभाव में थे इसलिए हमारे नियम अभाव में कैसे जीयें , इस भाव से बनें। हमें तकनीक की मदद से नयी आने वाली चुनौतियों को भांपना और उसका समाधान खोजना चाहिए।
प्रधानमंत्री ने कहा कि गर्वनेंस में बदलाव लाना हमारा नित्य कर्म होना चाहिए। उन्होंने कहा कि आठ साल में कई ऐसे काम हुए जिनसे व्यवहार में बदलाव आना चाहिए। अब स्वच्छता आपके जीवन का स्वभाव बन जाना चाहिए।
हमारा यूपीआई की दुनिया भर में प्रशंसा हो रही है, क्या हम अपनाते हैं या नहीं ? यदि यह नहीं हो पा रहा है तो आम नागरिक से क्या अपेक्षा करेंगे?

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण     

1. अंक-195, (वर्ष-05)
2. शुक्रवार, अप्रैल 22, 2022
3. शक-1984, वैशाख, कृष्ण-पक्ष, तिथि-षष्ठी, विक्रमी सवंत-2078‌।        
4. सूर्योदय प्रातः 07:04, सूर्यास्त: 06:24।
5. न्‍यूनतम तापमान- 23 डी.सै., अधिकतम-38+ डी सै.। उत्तर भारत में बरसात की संभावना।
6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है।
7.स्वामी, मुद्रक, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम व शिवांशु, (विशेष संपादक) श्रीराम व सरस्वती (सहायक संपादक) के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी।
8. संपर्क व व्यवसायिक कार्यालय- चैंबर नं. 27, प्रथम तल, रामेश्वर पार्क, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102।
9. पंजीकृत कार्यालयः 263, सरस्वती विहार लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102
http://www.universalexpress.page/
www.universalexpress.in
email:universalexpress.editor@gmail.com
संपर्क सूत्र :- +919350302745 
           (सर्वाधिकार सुरक्षित)

'जिला स्वच्छ भारत मिशन' की बैठक संपन्न

'जिला स्वच्छ भारत मिशन' की बैठक संपन्न    सुशील केसरवानी         कौशाम्बी। मुख्य विकास अधिकारी शशिकान्त त्रिपाठी की अध्यक्षता में उद...