आयुर्वेद लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
आयुर्वेद लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

शुक्रवार, 5 फ़रवरी 2021

आयुर्वेद के अनुसार जाने, नहाने का सही तरीका

आयुर्वेद के अनुसार जाने नहाने का सही तरीका
पालूराम
आयुर्वेद के अनुसार, जल्दबाजी में नहाना जल्दबाजी में भोजन करने की तरह होता है। और आपके शरीर को सभी लाभ नहीं मिल पाते। और आप जल्दी में नहाते है। तो ठीक से शरीर की सफाई भी नहीं होती। ताजगी पाने के लिए नहाने का अच्छा अनुभव करना जरूरी होता है। आप इस प्रक्रिया का धीरे-धीरे का पालन करें ताकि आपके शरीर के हर हिस्से में पानी ठीक तरह से जा सके। आइए ठीक से नहाने के तरीके के बारे में जानें
नहाने की शुरुआत अपने हाथ और पैरों को धोने से करें। अगर आप ठंडे पानी से नहा रहे हैं। तो आपको शुरुआत सिर से पांव से करनी चाहिए। और अगर आप गर्म पानी से नहा रहे हैं। तो आपको पैरों की उंगालियों से धोना शुरु करते हुए फिर सिर तक आना चाहिए। आपको बाजार में उपलब्ध केमिकल युक्त साबुन से बचना चाहिए क्योंकि सभी केमिकल आपकी त्वचा अवशोषित कर सकती है।
नहाने से पहले सरसों के तेल या तिल के तेल की मसाज आपके शरीर के लिए फायदेमंद हो सकती है। यह मांसपेशियों को रिलैक्स करने और त्वचा की बनावट में सुधार करने में मदद करती है। हालांकि स्नान करते समय जल्दी नहीं होनी चाहिए, लेकिन बहुत देर तक भी नहाना ठीक नहीं होता। इसके अलावा बेहतर स्वच्छता के लिए दिन में दो बार नहाना पर्याप्त रहता है। आप नहाने के पानी के कुछ नीम मिलाकर कुछ समय मे लिए छोड़ सकते है। फिर इस पानी से नहाने से त्वचा के स्वास्थ्य में सुधार होता है।

फाउंडेशन द्वारा बच्चों के साथ 'अमृत महोत्सव' मनाया

फाउंडेशन द्वारा बच्चों के साथ 'अमृत महोत्सव' मनाया  जे.एस.वी. किड्स एकेडमी में सारथी वेलफेयर फाउंडेशन ने मनाया अमृत महो...