रविवार, 26 मार्च 2023

बिस्तर पर मृत पाए गए दो मासूम बच्चे, सांप 

बिस्तर पर मृत पाए गए दो मासूम बच्चे, सांप 

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। दिल्ली में एक परिवार के स्कूल जाने वाले दो मासूम बच्चे सुबह अपने बिस्तर पर मृत पाए गए। उनकी मृत्यु के संभव कारणों की जांच-पड़ताल करते हुए उनके खाने-पीने की पूछताछ की गई, तो बच्चों की मां ने बताया कि बच्चों ने बाहर की कोई चीज़ नहीं खाई थी, लेकिन रात को सोते समय रोज़ाना की तरह उनको एक एक गिलास दूध जरूर पिलाया गया था। जब फ्रिज में रखे हुए दूध के बर्तन की जाँच की गई, ,तो पता चला कि उसके तले में 3-4 इंच का एक सांप का बच्चा मरा  पड़ा मिला। 

वह फ्रिज में कैसे पहुँचा और दूध के बर्तन में कैसे गिर गया ?

परिवार ने याद करके बताया कि वे सब्जी मंडी से पालक लाए थे और उस पालक की गड्डी को खोले बगैर फ्रिज में रखा था। हो सकता है, उसी पालक की गड्डी में से निकलकर वह सांप का छोटा-सा बच्चा दूध के बर्तन में गिर गया होगा। बेशक , बच्चों की मौत का कारण तो स्पष्ट हो गया, लेकिन परिवार ने अपने दो मासूम खो दिए।

इसलिए, फ्रिज में कोई वस्तु, विशेष रूप से पत्तेदार सब्जियां रखने पर हमें बहुत सावधान रहना चाहिए तथा वस्तुओं को ढक कर ही फ्रिज में रखना चाहिए। समय-समय पर अपने फ्रीज की साफ-सफाई भी करते रहे, घर में किचन में कोई भी खाने की वस्तु बिना ढकी ना रखे‌।

'यूपी' पुलिस की गाड़ी नहीं पलटती, अपराधी पलटता है

'यूपी' पुलिस की गाड़ी नहीं पलटती, अपराधी पलटता है

संदीप मिश्र 

लखनऊ। अतीक अहमद साबरमती जेल से उत्तर प्रदेश नहीं आना चाहता। क्योंकि, उसे यूपी पुलिस की गाड़ी पलटने का डर सता रहा है, इस सवाल के जवाब में डीजीपी डीएस चौहान ने कहा कि हमारी फ्लीट अच्छी है, यूपी पुलिस की कोई गाड़ी नहीं पलटती, सिर्फ अपराधी पलटता है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का धन्यवाद। उन्होंने हमारी डेली रूटीन कामों में कभी दखल नहीं दिया। एक टीम बनायीं और हमें खुली छूट दी और हम लोग कानून के दायरे में अपने कर्तव्य को निभाते हैं।

एनकाउंटर के सवाल पर डीजीपी ने कहा कि यूपी पुलिस का हर जवान और अफसर सर पर कफन बांधकर उतरता है, लेकिन इसका मतलब ये नहीं है कि हम अपना नुकसान करके आए। युद्ध के मैदान में जो उतरते हैं, वही गिरते हैं। और यूपी पुलिस इतनी बहादुर है कि गिर कर फिर से खड़ा होना जानती है। डीजीपी डीएस चैहान ने अतीक के सवाल पर कहा कि वह हमारे लिए एक मामूली क्रिमिनल है, पता नहीं आप लोग उसके बारे में ऐसा क्यों बोल रहे हैं। हम उसे मामूली क्रिमनल की तरह ही ट्रीट करते हैं।

अपराधियों के जेल में रहते हुए गैंग चलाने के सवाल पर यूपी के डीजीपी डीएस चैहान ने कहा कि जेल में रहने वाले पूजा पाठ तो करते नहीं। उनके अन्दर क्रिमिनल टेंडेंसी रहती है। वह तभी खत्म होती है, जब अदालतें उन्हें दोषी करार दे देती है। तब उनको पता चल जाता है कि उनका खेल खत्म है। जेल में बनने वाले कई षड्यंत्र हम विफल कर देते हैं और कई बार हम उसे जाहिर नहीं करते। एनकाउंटर के बारे में उन्होंने कहा कि पुलिस के ऊपर अगर कोई गोली चलाएगा तो हमारी ट्रेनिंग है कि गोली का जवाब हम गोली से ही देते हैं।

माफिया अतीक अहमद के बारे में बात करते हुए उत्तर प्रदेश के पुलिस महानिदेशक डीएस चौहान ने कहा कि हमारे रिकार्ड में अपराधी का एक गैंग और उसका पंजीकरण होता है। हम अपराधी को अपराधी के तौर पर देखते हैं। हमारे लिए वह बस एक गैंग का प्रमुख है। यूपी पुलिस जब जिसको चाहे अरेस्ट कर सकती है, कानून के कठघरे में खड़ा कर सकती है। किसको कब और कैसे गिरफ्तार करना है, वह हमारी रणनीति का हिस्सा है।

मुख्य न्यायमूर्ति के रूप में दिवाकर को शपथ दिलाई

मुख्य न्यायमूर्ति के रूप में दिवाकर को शपथ दिलाई

बृजेश केसरवानी 
प्रयागराज। इलाहाबाद हाईकोर्ट के मुख्य न्यायमूर्ति के रूप में वरिष्ठ न्यायमूर्ति प्रीतिंकर दिवाकर को रविवार को उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदी बेन पटेल ने शपथ दिलाई। शपथ ग्रहण समारोह चीफ जस्टिस की कोर्ट में संपन्न हुआ। इस अवसर पर प्रदेश सरकार की तरफ से मंत्री सुरेश खन्ना, चीफ सेक्रेटरी उत्तर प्रदेश, महाधिवक्ता अजय मिश्रा, अपर महाधिवक्ता एमसी चतुर्वेदी, नीरज त्रिपाठी, मनीष गोयल तथा न्यायिक अधिकारियों के अलावा बड़ी संख्या में वरिष्ठ व जूनियर वकील उपस्थित रहे।
पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार शपथ ग्रहण समारोह ठीक 11 बजे चीफ जस्टिस कोर्ट में संपन्न हुआ।
शपथ ग्रहण समारोह के बाद राज्यपाल ने सारे जजों से मुलाकात की। राज्यपाल के साथ फोटो सेशन का भी कार्यक्रम संपन्न हुआ। शपथ ग्रहण समारोह में इलाहाबाद और लखनऊ बेंच के न्यायमूर्ति गण उपस्थित रहे। मुख्य न्यायाधीश के परिवार जन तथा रिश्तेदार एवं मध्य प्रदेश के कार्यरत जज भी इस समारोह में शामिल हुए। न्यायमूर्ति प्रीतिंकर दिवाकर दुर्गावती विश्वविद्यालय जबलपुर से विधि की पढ़ाई करने के बाद छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट में प्रैक्टिस शुरू की थी।
2005 में वह बतौर वरिष्ठ अधिवक्ता नामित हुए थे। इसके बाद 2009 में वह छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट में जज बने। 2018 में उनका स्थानांतरण इलाहाबाद हाईकोर्ट कर दिया गया। इलाहाबाद हाईकोर्ट में मुख्य न्यायमूर्ति रहे राजेश बिंदल को सुप्रीम कोर्ट का जज बनाए जाने के बाद वह यहां पर कार्यवाहक मुख्य न्यायमूर्ति नियुक्त हुए। इसके बाद सुप्रीम कोर्ट कॉलेजियम की संस्तुति के बाद राष्ट्रपति ने उन्हें इलाहाबाद हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश के तौर पर नियुक्त किया।

राजस्थान: बीकानेर में भूकंप के झटके महसूस किए 

राजस्थान: बीकानेर में भूकंप के झटके महसूस किए 

नरेश राघानी 

जयपुर। भूकंप के झटके लगते ही लोगों में दहशत पसर गई। धरती के हिलते ही दहशत के मारे बुरी तरह कांप उठे लोग अपने मकानों से बाहर निकलकर सड़क एवं खुले मैदान में आ गए। 4 दिन पहले भी भूकंप के झटके लगने के बाद धरती हिल गई थी। रविवार को एक बार फिर से राजस्थान के बीकानेर में भूकंप के झटके महसूस किए गए हैं। सुबह के समय जिस समय लोग सवेरे की नींद का आनंद ले रहे थे, तो अचानक से धरती के हिलते ही उनकी नींद फुर्र हो गई। भूकंप के झटकों से जब घर के खिड़की दरवाजे और पंखे हिलने लगे तो दहशत के मारे लोग बिस्तर को छोड़कर भागदौड़ करते हुए अपने घरों से बाहर निकलकर सड़क और खुले मैदान में पहुंच गए।

भूकंप का केंद्र बीकानेर से 516 किलोमीटर पश्चिम की ओर होना बताया गया है। रिक्टर स्केल पर रविवार को आए भूकंप की तीव्रता 4.2 मापी गई है। भूकंप के झटके बंद होने के काफी देर बाद तक भी लोगों में दहशत सी बनी रही और धरती के नीचे हुई हलचल को लेकर चर्चाओं में मशगूल रहे। उल्लेखनीय है कि 4 दिन पहले भी भूकंप के झटके महसूस किए गए थे।

लक्ष्य, पहली इंडिगो उड़ान का शुभारंभ: सिंधिया 

लक्ष्य, पहली इंडिगो उड़ान का शुभारंभ: सिंधिया 

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने रविवार को कहा कि नागरिक उड्डयन के क्षेत्र में पिछले 65 वर्षों में जो हासिल नहीं हुआ, वह पिछले नौ वर्षों में 148 हवाईअड्डे, वाटरड्रोम और हेलिपोर्ट बनाकर पूरा कर लिया गया है तथा अगले तीन से चार सालों के भीतर 200 एयरपोर्ट बनाने के लक्ष्य रखा गया है। सिंधिया ने रविवार को यहां पहली दिल्ली-धर्मशाला-दिल्ली इंडिगो उड़ान का शुभारंभ किया। इस मौके पर आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि नागरिक उड्डयन मंत्रालय अगले तीन से चार वर्षों के भीतर 200 एयरपोर्ट बनाने के लक्ष्य की दिशा में काम कर रहा है।

यह प्रयास बड़े मेट्रो हवाई अड्डों के साथ-साथ दूर-दराज के हवाई अड्डों को भी उतना ही महत्व देगा, जो अंतिम छोर तक संपर्क मुहैया कराते हैं। धर्मशाला हवाई अड्डे के विस्तार के संबंध में उन्होंने कहा कि उनका मंत्रालय पहले से ही इसके लिए दो चरण की योजना पर काम कर रहा है। पहले चरण में वर्तमान रनवे को 1900 मीटर तक लंबा करना शामिल है ताकि लोड पेनल्टी के साथ टर्बोप्रॉप विमान को बिना किसी पेनाल्टी के चलने में सक्षम बनाया जा सके। 

दूसरे चरण में हवाईअड्डे पर बोइंग 737 और एयरबस ए320 को उतारने के विजन को साकार करने के लिए रनवे को 3110 मीटर तक और लंबा करना शामिल होगा। उन्होंने कहा कि शिमला हवाई अड्डे पर रनवे की मरम्मत का काम पूरा हो गया है और मंडी में ग्रीनफील्ड हवाई अड्डे के लिए जगह की मंजूरी दे दी गयी है। उन्होंने दोहराया कि उनका मंत्रालय राज्य में नागरिक उड्डयन बुनियादी ढांचे के विकास के लिए प्रतिबद्ध है।

उन्होंने कहा, “ नागरिक उड्डयन क्षेत्र में पूर्ण लोकतंत्रीकरण आया है और जो लोग केवल विमान को उड़ते हुए देख सकते थे, वे आज इसमें उड़ान भर रहे हैं।” हिमाचल प्रदेश में नागरिक उड्डयन मंत्रालय की उपलब्धियों का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि कनेक्टिविटी 2013-14 में प्रति सप्ताह 40 विमान से बढ़कर 110 विमान हो गई है, जो पिछले नौ वर्षों में 175 फीसदी की वृद्धि है। विशेष रूप से धर्मशाला में इस अवधि में हवाई यातायात की संख्या में 110 प्रतिशत की वृद्धि हुई है, जो 2013-14 में प्रति सप्ताह 28 उड़ान की तुलना में बढ़कर आज 50 हो गई है। 

पूर्व विधायक व दल नेता जगबीर 'आप' में शामिल 

पूर्व विधायक व दल नेता जगबीर 'आप' में शामिल 

अमित शर्मा 

चंडीगढ़। पंजाब में जालंधर छावनी के पूर्व विधायक व शिरोमणि अकाली दल नेता जगबीर ब्रार रविवार को आम आदमी पार्टी में शामिल हो गए। अकाली नेता ने मुख्यमंत्री भगवंत सिंह मान की उपस्थिति में आप का दामन थामा।

मान ने उनका पार्टी में स्वागत करते हुए कहा कि श्री ब्रार के आने से हमारी पार्टी और मजबूत होगी।

गांधी की टिप्पणी को सही ठहराने हेतु आंदोलन

गांधी की टिप्पणी को सही ठहराने हेतु आंदोलन

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने संकल्प सत्याग्रह को लेकर रविवार को कांग्रेस की आलोचना की और आरोप लगाया कि वह देश के 'पूरे पिछड़े समुदाय' के खिलाफ राहुल गांधी की टिप्पणी को सही ठहराने के लिए देश के संविधान और अदालत के फैसले के खिलाफ आंदोलन कर रही है। भाजपा प्रवक्ता सुधांशु त्रिवेदी ने यहां संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कांग्रेस के आंदोलन को महात्मा गांधी का अपमान करार देते हुए कहा कि राष्ट्रपिता ने सामाजिक मुद्दों के लिए सत्याग्रह किया था, जबकि कांग्रेस निजी कारणों से 'तथाकथित सत्याग्रह' कर रही है।

उन्होंने आरोप लगाया कि गुजरात में मानहानि के एक मामले में गांधी को दोषी ठहराए जाने और अदालत के फैसले के परिणामस्वरूप लोकसभा सदस्य के रूप में उन्हें स्वत: अयोग्य करार दिए जाने के बाद कांग्रेस का आंदोलन उसके अहंकार का 'निर्लज्ज' प्रदर्शन है। उन्होंने कहा कि आंदोलन का सच्चाई के लिए लड़ने से कोई लेना-देना नहीं है। त्रिवेदी ने कहा, संपूर्ण लोकतंत्र के प्रति अपमानजनक टिप्पणी करने वाले लोग, सत्याग्रह के नाम पर महात्मा गांधी की समाधि पर जो कर रहे हैं, उसमें सत्य के प्रति कोई आग्रह नहीं, बल्कि अहंकार का दुराग्रह निर्लज्जता के साथ दिख रहा है।

भाजपा नेता ने कहा कि गांधी को सूरत की एक अदालत ने उचित कानूनी प्रक्रिया के बाद दोषी ठहराया और लोकसभा सदस्य के रूप में उन्हें अयोग्य ठहराया जाना संबंधित कानून के तहत स्वत: हुआ है। भाजपा नेता ने पूछा, फिर सत्याग्रह किस लिए। उन्होंने कांग्रेस से स्पष्टीकरण की मांग करते हुए कहा, क्या यह देश के पूरे पिछड़े समुदाय का अपमान करने के तरीके को सही ठहराने के लिए है या उस अदालत के खिलाफ जिसने आपको सजा सुनाई है या उस प्रावधान के खिलाफ जिसके तहत आपको अयोग्य ठहराया गया है?

यह उल्लेख करते हुए कि 1984 के सिख विरोधी दंगों में कथित तौर पर शामिल कुछ कांग्रेस नेता भी पार्टी के आंदोलन में भाग ले रहे थे, भाजपा नेता ने विपक्षी दल से यह स्पष्ट करने को भी कहा कि क्या राजघाट में महात्मा गांधी के समाधि स्थल पर आयोजित उनका सत्याग्रह भी 'अहिंसा' के खिलाफ है।

कांग्रेस ने पार्टी के पूर्व प्रमुख राहुल गांधी को लोकसभा की सदस्यता से अयोग्य ठहराए जाने के खिलाफ रविवार को राष्ट्रव्यापी प्रदर्शन किया। इसी कड़ी में राजघाट पर आयोजित सत्याग्रह को संबोधित करती हुई कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाद्रा ने कहा कि देश को जोड़ने के लिए हज़ारों किलोमीटर चलने वाला शहीद प्रधानमंत्री का बेटा कभी भी देश का अपमान नहीं कर सकता है। प्रियंका ने कहा कि समय आ गया है कि अहंकारी सरकार के खिलाफ आवाज उठाई जाए, क्योंकि राहुल गांधी को चुनाव लड़ने से रोकना देश और इसके लोकतंत्र के लिए अच्छा नहीं है। 

रूस-चीन की तरह 'लोकतंत्र' लाना चाहती है भाजपा

रूस-चीन की तरह 'लोकतंत्र' लाना चाहती है भाजपा

अकांशु उपाध्याय/इकबाल अंसारी 

नई दिल्ली/तिरुवनंतपुरम/ग्वालियर। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह ने रविवार को केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि सत्तारूढ़ दल भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेता देश में रूस और चीन की तरह लोकतंत्र लाना चाहते हैं। सिंह ने यहां पत्रकार वार्ता में कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी से जुड़े सवालों के संदर्भ में कहा कि प्रधानमंत्री मोदी और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह देश में रूस और चीन की तरह लोकतंत्र लाना चाहते हैं। इन दोनों देशों में विपक्ष का कोई भी नेता विरोध करे, तो उसे जेल में डाल दिया जाता है। 

पूर्व मुख्यमंत्री ने गांधी का बचाव करते हुए कहा कि उन्होंने कोई गलत कार्य नहीं किया है। उन्होंने तो देश हित में सवाल पूछे और उनके खिलाफ कार्रवाई कर दी गयी। उन्हें बोलने से रोकने के प्रयास किए जा रहे हैं। सिंह ने कहा कि कांग्रेस इससे भयभीत होने वाली नहीं है। गांधी के खिलाफ हुयी कार्रवाई के खिलाफ पूरे देश में पार्टी प्रदर्शन कर रही है। वरिष्ठ कांग्रेस नेता ने कहा कि गांधी ने यही तो पूछा है कि देश के उद्योगपति अडानी की कंपनियों में 20 हजार करोड़ रुपए कैसे आ गए।

उन्होंने कहा कि हिडनबर्ग की रिपोर्ट के बाद अडानी समूह के शेयर्स में काफी गिरावट आयी और निवेशकों की बड़ी धनराशि डूब गयी। उन्होंने कहा कि विपक्ष अडानी मामले की जांच के लिए जेपीसी (संयुक्त संसदीय समिति) के गठन की मांग कर रही है, इसे क्यों नहीं माना जा रहा है। सिंह ने कहा कि देश में पहले भी विपक्ष की मांग पर जेपीसी का गठन हुआ है। बोफोर्स मामले में भी इस तरह की समिति गठित की गयी थी।

उन्होंने कहा कि सरकार को जेपीसी के गठन की बात मानना चाहिए। उन्होंने मध्यप्रदेश की शिवराज सिंह चौहान सरकार पर भी निशाना साधा और कहा कि उसकी नीतियों के कारण जनता परेशान है। सिंह ने सागर जिले की बिजली बिल वसूली संबंधी मामले का जिक्र करते हुए कहा कि सरकार एक हजार रुपए महिलाओं को देने का ढिंढोरा पीट रही है और बिजली बिल वसूली के लिए महिलाओं के साथ कैसा बर्ताव किया जा रहा है, इससे साफ हो गया।

एक अन्य सवाल के जवाब में सिंह ने कहा मध्यप्रदेश में आगामी विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की सरकार बनेगी और मुख्यमंत्री कमलनाथ बनेंगे। सिंह कल रात ट्रेन से यहां पहुंचे थे और आज उन्होंने यहां पार्टी से संबंधित विभिन्न कार्यक्रमों में शिरकत की। रविवार की रात को वे यहां से दिल्ली रवाना हो गए।

28 मार्च की रात को 5 ग्रह 'आकाश' में दिखेंगे: नासा 

28 मार्च की रात को 5 ग्रह 'आकाश' में दिखेंगे: नासा 

अखिलेश पांडेय 

वाशिंगटन डीसी। नासा के वैज्ञानिक बिल कुक ने बताया है, कि 28 मार्च की रात को 5 ग्रह आकाश में 50 डिग्री की रेखा में दिखेंगे। चांद के पास बुध, शुक्र, मंगल, बृहस्पति और यूरेनस दिखेंगे और बुध व यूरेनस को देखने के लिए दूरबीन की ज़रूरत होगी। संयोजन 28 मार्च से पहले और बाद के दिनों में भी दिखेगा।

इस महीने के आखिर में अंतरिक्ष में एक अनोखी घटना होने वाली है। इस घटना को पृथ्वी से आसानी से देखा जा सकता है। दरअसल, 28 मार्च को बुध, शुक्र, मंगल, बृहस्पति और यूरेनस 50 डिग्री के एक छोटे से क्षेत्र में एकत्रित होंगे। इस दौरान इन सौर मंडल के इन पांचों ग्रहों को पृथ्वी से नंगी आंखों से देखा जा सकता है। यूनीलाड की रिपोर्ट के अनुसार, बुध क्षितिज से -1.3 मैग्नीट्यूड, बृहस्पति को -2.1 मैग्नीट्यूड पर देखा जा सकता है। अगर इस नजारे को साफ देखना हो तो खगोलविज्ञानी दूरबीन का इस्तेमाल कर सकते हैं। यह घटना सूर्यास्त के तुरंत बाद काफी साफ नजर आएगी।

कैसे देख सकते हैं ग्रहों का मेला ?
एजुकेशनल एस्ट्रोनॉमी ऐप स्टार वॉक के अनुसार, क्षितिज से ठोड़ा सा ऊपर जाने पर मेष राशि के साथ-साथ -4.0 के मैग्नीट्यूड पर शुक्र ग्रह को देखा जा सकता है। हालांकि, यूरेनस को देखना आसान नहीं होगा। इस ग्रह की हल्की झलक क्षितिज से 5.8 मैग्नीट्यूड पर देखी जा सकती है। इस घटना को काफी दुर्लभ बताया जा रहा है। ऐसे में पूरी दुनिया में इस घटना को देखने को लेकर उत्साह बना हुआ है। कई खगोलप्रेमियों ने विशेष आयोजन करने का भी ऐलान किया है, जिसमें आम लोगों को इस घटना का लाइव टेलिकॉस्ट किया जाएगा।

नासा करेगा लाइव टेलीकॉस्ट
अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा इस घटना पर नजर बनाए हुए है। नासा के एक अधिकारी ने बताया है कि इस घटना का लाइव टेलिकॉस्ट किया जाएगा। इसे नासा के जिससे आम लोगों के बीच अंतरिक्ष को लेकर रुचि बढ़ सके। नासा ने बताया है कि घटना के समय ये सभी ग्रह एक सीध में नहीं होंगे, लेकिन इनका नजदीक होना अत्यंत दुर्लभ है। इससे पहले तीन और चार ग्रहों को एक पास देखा जा चुका है। नासा के अनुसार, जो लोग 28 मार्च को इस घटना को देखने से चूक जाएंगे, वे बाद में टेलिस्कोप का उपयोग कर देख सकते हैं। हालांकि, उसके लिए आपको विशेषज्ञता की जरूरत होगी।

हैरतअंगेज: 14 महीने तक पेशाब नहीं कर सकी 'महिला'

हैरतअंगेज: 14 महीने तक पेशाब नहीं कर सकी 'महिला' 

डॉक्टर सुभाषचंद्र गहलोत 

लंदन। यूके में फाउलर्स सिंड्रोम होने के कारण एक 30 वर्षीय महिला 14 महीने (अक्टूबर 2020 से दिसंबर 2021) तक पेशाब नहीं कर सकी। डॉक्टर्स ने इसके बाद महिला के मूत्राशय में एक इमरजेंसी कैथेटर लगाया जिससे वह पेशाब कर सके। महिला ने जनवरी-2023 में इसके लिए एक ऑपरेशन कराया और बताया, ऐसे नर्क के बाद इससे मेरा जीवन आसान हो गया। लंदन की रहने वाली ईल एडम्स पेशे के कंटेंट क्रिएटर हैं। कुछ महीने पहले उन्होंने महसूस किया कि उन्हें अब यूरिन नहीं आता। जबकि वो नॉर्मल इंसानों की तरह खाना-पीना ले रही थीं। एडम्स को शुरू में यह सब कुछ नॉर्मल लगा। लेकिन जैसे-जैसे दिन बीतते गए, उनकी चिंता भी बढ़ती गई।

आखिरकार उन्हें हॉस्पिटल जाना पड़ा। जांच हुई तो डॉक्टर्स भी हैरान रह गए। एडम्स के यूरिनरी ब्लैडर में 1 लीटर यूरिन भरा था। जबकि इंसानों के ब्लैडर में 600 ml यूरिन ही जमा हो सकता है। उसमें भी 400 ml भरने के बाद इंसान को पेशाब करने की आवश्यकता महसूस होने लगती है। उन्होंने बताया कि अक्टूबर 2020 तक उनके साथ सबकुछ ठीक था लेकिन अचानक एक रात उनकी तबीयत काफी ज्यादा बिगड़ गई और जब अगली सुबह वह वॉशरूम गई तो वह पेशाब नहीं कर पा रही थी। 

इसके बावजूद एडम्स को पेशाब करने की जरूरत महसूस नहीं हो रही थी और न ही उसे किसी तरह की दिक्कत हो रही थी। डॉक्टर्स का कहना है कि यूरिन पास न हो पाने के चलते एडम्स की शरीर से टॉक्सिक एलिमेंट्स बाहर नहीं आ पा रहे थे। शरीर में जमा हो रहे ये तत्व आगे चलकर गंभीर नुकसान पहुंचा सकते थे। एडम्स का ब्लैडर पूरी तरह से भरने के बाद भी यूरिन पास नहीं कर पा रहा था। ऐसे में ब्लैडर के फटने का भी खतरा था। जिसे देखते हुए डॉक्टर्स ने पाइप के सहारे यूरिन बाहर करने का फैसला किया। इसके लिए एक ऑपरेशन की मदद से एडम्स के ब्लैडर में नली लगाई गई। जिसके बाद उनका ब्लैडर खाली हुआ।

एडम्स की ऐसी स्थिति क्यों हुई है, इस बारे में डॉक्टर भी कोई ठोस वजह नहीं बता पाए। लेकिन यह बताया गया कि कुछ मामलों में यंग महिलाओं के साथ ये समस्या देखी जाती है। एडम्स जिस तरह की समस्या से जूझ रही हैं, उसका कोई जांचा-परखा इलाज भी नहीं है। लंदन में एडम्स का इलाज करने वाले डॉक्टर्स का कहना है कि ऐसी संभावना है कि उन्हें हमेशा नली के सहारे ही यूरिन पास करना होगा। क्योंकि लंबे समय तक काम न करने के चलते उनका यूरिन सिस्टम काफी हद तक खराब हो चुका है।

स्किन की नमी को वापस दिलाने में फायदेमंद है 'तरबूज'

स्किन की नमी को वापस दिलाने में फायदेमंद है 'तरबूज'

सरस्वती उपाध्याय 

गर्मी के मौसम ने दस्तक दे दी है। इस मौसम में हमारी बॉडी बहुत ज़्यादा डिहाइट्रेटेड होती है, जिसका असर हमारे स्किन पर भी साफ़ दिखता है। इस मौसम में हमारी स्किन सूरज की किरणों में आने की वजह से डल, बेजान और मुरझा जाती है। अगर आप भी इन परेशानियों का सामना कर रहे हैं तो आपके लिए एक बेहद असरदार नुस्खा लेकर आये हैं।
दरअसल, आपकी स्किन की खोई हुई नमी को वापस दिलाने में तरबूज बेहद फायदेमंद है। जी बिलकुल आपको यह जानकर हैरानी होगी लेकिन पानी से भरपूर यह फल आपकी सेहत के साथ-साथ त्वचा के लिए भी बेहद फायदेमंद है। इसके सेवन से शरीर में पानी की कमी नहीं होती है। ऐसे में अगर आप गर्मियों में त्वचा से जुड़ी समस्या से छुटकारा पाना चाहते हैं तो तरबूज का फेस पैक जरूर आजमाएं।

तरबूज में विटामिन ए और विटामिन सी पाया जाता है, जो झुर्रियों से राहत दिलाता है। दरअसल इसमें लाइकोपिन पाया जाता है जो त्वचा की गलोइंगनेस को बनाए रखता है। पानी से भरपपोर होने की वजह से यह चेहरे को अंदर से क्लीन करके सारी गंदगी को बाहर निकालता है। साथ ही स्किन को अंदर से मॉइश्चराइज करता है। तरबूज का फेस पैक लगाने से रिंकल, डार्क स्पॉट, टैनिंग जैसी समस्याओं से भी छुटकारा मिल सकता है।

तरबूज का फेस पैक के लिए सामग्री...

तरबूज का पल्प दो से तीन चम्मच
शहद एक चम्मच
बेसन एक चम्मच
हल्दी आधा चम्मच 

फेस पैक बनाने की विधि...

सबसे पहले एक बाउल में तरबूज का पल्प निकाल लें। इसके बीज को भी निकाल दें। तरबूज के पल्प में एक चम्मच शहद, चुटकीभर हल्दी और 1 चम्मच बेसन मिलाकर पेस्ट तैयार करें। पेस्ट में लम्स न पड़ने दें। अब चेहरे पर यह मास्क लगा लें। 15 मिनट बाद जब पेस्ट सूख जाए तो नॉर्मल पानी से अपना स्किन धोएं। फेस पैक हटाने के बाद चेहरे को मॉइश्चराइज करें। इस पैक को हफ्ते में 2 से 3 बार ज़रूर आजमाएं, ऐसा करने से आपका चेहरा रुई के फाहे की तरह मुलायम हो जाएगी।

लोकतंत्र को कमजोर करने वाले सत्याग्रह नहीं कर सकतें

लोकतंत्र को कमजोर करने वाले सत्याग्रह नहीं कर सकतें

संदीप मिश्र 

लखनऊ। राहुल गांधी की सांसदी जाने के विरोध में कांग्रेस के सत्याग्रह कार्यक्रम पर तंज कसते हुए यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि लोकतंत्र को कमजोर करने वाले सत्याग्रह नहीं कर सकतें हैं। सीएम योगी ने कांग्रेस पार्टी और राहुल गांधी निशान साधा। सीएम योगी ने कहा कि देश को भाषावाद और क्षेत्रवाद जैसे तमाम वादों में बांटने वाले भी सत्याग्रह नहीं कर सकते। मौन जीवों की बात तो दूर मनुष्य के प्रति भी जिनकी संवेदना न हो, उन्हें सत्याग्रह का अधिकार नहीं है। सीएम योगी ने रविवार को एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कांग्रेस पार्टी पर जमकर कटाक्ष किए।

सीएम योगी ने कहा कि गांधी जी ने अपने जीवन में सदैव सत्य, अहिंसा और अस्तेय को स्थान दिया था। उनका इस बात के लिए आग्रह था। उनका आग्रह ही सत्याग्रह कहलाया। उन्होंने कहा कि देश के अंदर बहुत सारे लोगों को शासन करने का अवसर प्राप्त हुआ था, लेकिन मौन जीवों की बात दूर मनुष्य के प्रति भी जिनके अंदर भाव न हो, वो क्या सत्याग्रह करेंगे। असत्य के मार्ग पर चलने वाला सत्याग्रह की बात नहीं कर सकता। आकंठ भ्रष्टाचार में डूबे हुए लोग सत्याग्रह नहीं सकते हैं।

इस दौरान सीएम योगी ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के सत्याग्रह की व्याख्या करते हुए कहा कि मन, वचन और कर्म पर चलना ही सत्याग्रह है। उन्होंने कांग्रेस नेताओं को उनके आचार और व्यवहार पर आड़े हाथ लेते हुए कहा कि जिसके आचरण और व्यवहार, आचार और विचार, कथनी और करनी में फर्क होता है, वह सत्याग्रह नहीं कर सकता। 

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण


1. अंक-164, (वर्ष-06)

2. सोमवार, मार्च 27, 2023

3. शक-1944, चैत्र, शुक्ल-पक्ष, तिथि-षष्ठी, विक्रमी सवंत-2079‌।

4. सूर्योदय प्रातः 06:40, सूर्यास्त: 06:23। 

5. न्‍यूनतम तापमान- 15 डी.सै., अधिकतम- 24+ डी.सै.।

6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है। 

7.स्वामी, मुद्रक, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम व शिवांशु  (विशेष संपादक) श्रीराम व सरस्वती (सहायक संपादक) संरक्षण-अखिलेश पांडेय, ओमवीर सिंह, वीरसैन पवार, योगेश चौधरी आदि के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी।

8. संपर्क व व्यवसायिक कार्यालय- चैंबर नं. 27, प्रथम तल, रामेश्वर पार्क, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102। 

9. पंजीकृत कार्यालयः 263, सरस्वती विहार लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102

http://www.universalexpress.page/ www.universalexpress.in 

email:universalexpress.editor@gmail.com 

संपर्क सूत्र :- +919350302745--केवल व्हाट्सएप पर संपर्क करें, 9718339011 फोन करें।

(सर्वाधिकार सुरक्षित)

विधानसभा का पांच दिवसीय बजट सत्र शुरू

विधानसभा का पांच दिवसीय बजट सत्र शुरू  पंकज कपूर  देहरादून। उत्तराखंड विधानसभा का पांच दिवसीय बजट सत्र राज्यपाल के अभिभाषण के साथ शुरू हो गय...