मंगलवार, 25 मई 2021

बाइडेन पहली बार राष्ट्रपति पुतिन से मुलाकात करेंगे

वाशिंगटन डीसी/ मास्को। अमेरिकी राष्ट्रपति बनने के बाद जो बाइडेन पहली बार रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन से मुलाकात करेंगे। 16 जून को यह मुलाकात जिनेवा में होगी। व्हाइट हाउस ने मंगलवार को इसकी पुष्टि कर दी। दोनों देशों के बीच, लंबे वक्त से कई मुद्दों पर तनाव चल रहा है। इसमें सबसे ज्यादा अहम अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में रूस की खुफिया एजेंसियों की दखलंदाजी का है। अमेरिकी विदेश विभाग रूस पर सार्वजनिक तौर पर आरोप लगा चुका है। बाइडेन और पुतिन की मीटिंग को लेकर कई हफ्तों से कयास लगाए जा रहे थे। मंगलवार को व्हाइट हाउस की प्रेस सेक्रेटरी जेन साकी ने 16 जून की मुलाकात पर मुहर लगा दी। दोनों नेता स्विटजरलैंड के जिनेवा में बातचीत करेंगे।

साकी ने कहा- मीटिंग के दौरान सभी मुद्दों पर बातचीत होगी। और वो मुद्दे कौन से हैं, इसकी जानकारी सभी को है। हम चाहते हैं कि रूस और अमेरिका के रिश्तों में सुधार हो और ग्लोबल इश्यूज पर हम सहयोग करें।क्लाइमेट चेंज और जी-20 की मीटिंग में दोनों वर्चुअली शामिल हुए थे। लेकिन, ये पहली बार होगा कि दोनों देशों के राष्ट्रपति आमने-सामने बातचीत करेंगे। अमेरिकी विदेश विभाग ने फरवरी में कहा था कि आंतरिक सुरक्षा के लिए रूस सबसे बड़ा खतरा है। इसके बाद चीन, ईरान और नॉर्थ कोरिया का नाम भी लिया गया था।

कोरोना से हुईं मौतों का जिम्मेदार कौन हैं: प्रियंका

अकांशु उपाध्याय             

नई दिल्ली। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने कहा है कि कोरोना की दूसरी लहर के दौरान बड़ी संख्या में लोगों ने अपने परिजनों को खोया है। इसलिए सरकार को बताना चाहिए, कि यह किसकी लापरवाही से हुआ और इसके लिए कौन जिम्मेदार है ? प्रियंका गांधी वाड्रा ने मंगलवार को फेसबुक पोस्ट में कहा कि जब कोरोना की दूसरी लहर ने देश में तबाही मचानी शुरू की और लोग बेड, ऑक्सीजन, वैक्सीन और दवाइयों के लिए संघर्ष कर रहे थे, तब लोगों को सरकार से उम्मीद थी कि वह स्थिति से निपटने के लिए उपलब्ध संसाधनों का पूरा इस्तेमाल कर लोगों को बचाने का काम करेगी लेकिन सरकार पूरी तरह से मूकदर्शक बनी रही और पूरे देश में पीड़ादायी स्थिति पैदा हुई। उन्होंने कहा कि सरकार के पास तैयारी के नाम पर कुछ नहीं था। इस फौरन सरकार ने अपनी गैर जिम्मेदारी का परिचय दिया और वैक्सीनों के निर्यात की अनुमति दी और 2020 में इसके निर्यात को दोगुना कर दिया। देश की आबादी की परवाह किये बिना सरकार का व्यवहार एकदम गैर-ज़िम्मेदाराना रहा। सरकार की इसी लापरवाही के कारण दूसरी लहर के दौरान मौतों के आंकड़े बताते हैं कि इसका कहर कितना घातक था।

कांग्रेस महासचिव ने कहा कि आज जब प्राकृतिक रूप से यह लहर थोड़ी थमने लगी तो अचानक सरकार अपनी मीडिया और मशीनरी के द्वारा फिर से दिखने लग रही है तथा प्रधानमंत्री और उनके मंत्री आगे आकर फिर से बयान देने लगे हैं। उन्होंने कहा कि सरकार की लापरवाही से उनके लोगों की जान गयी है इसलिए कुर्सी पर बैठे लोगों को देश के प्रति अपनी ज़िम्मेदारी और अपनी जवाबदेही समझ में आनी चाहिए।

सरकार ने लॉकडाउन की अवधि 3 जून तक बढ़ाईं

रांची। झारखंड में कठोर प्रावधानों के साथ लॉकडाउन की अवधि तीन जून तक बढ़ायी गई है। इस बात की जानकारी एक अधिकारी ने दी। यह तीसरी बार है, जब राज्य में लॉकडाउन की अवधि बढ़ाई गई है। राज्य में पहली बार 22 अप्रैल को लॉकडाउन लगाई थी।मुख्यमंत्री कार्यालय की तरफ से जानी बयान में कहा गया। ''स्वास्थ्य सुरक्षा सप्ताह अब पहले लगाए गए सभी प्रतिबंधों के साथ 3 जून तक बढ़ा दिया गया है।मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन की अध्यक्षता में हुई राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण की बैठक में यह फैसला किया गया।अधिकारी ने कहा, राज्य सचिवालय दोपहर दो बजे तक 33 प्रतिशत कर्मचारियों की संख्या के साथ काम करेगा और लोगों की आवाजाही पर प्रतिबंध होगा। अधिकारी ने आगे कहा,'' सरकारी अधिकारियों, मीडियाकर्मियों और फैक्टरी कर्मियों को अनिवार्य काम के लिए ई-पास से छूट दी गई है।

5 ट्रकों को वाहन अधिनियम में निरुद्ध सीज किया

कौशाम्बी। उत्तर प्रदेश सरकार व जिला प्रशासन द्वारा चलाये जा रहे अभियान के अंतर्गत पुलिस अधीक्षक के निर्देशन के क्रम में क्षेत्राधिकारी चायल के नेतृत्व में ओवर लोड परिवहन में संलिप्त वाहनों के विरुद्ध सर्किल चायल क्षेत्रान्तर्गत टीम गठित कर पुलिस ने बड़ी कार्यवाही की है।
पुलिस सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक थाना सराय अकिल पुलिस ने पांच ट्रकों व छः ट्रैकटर को धारा 207 के तहत सीज किया है। पुलिस कार्यवाही के अंतर्गत थाना पिपरी पुलिस ने पांच ट्रक को अंतर्गत धारा 207 मोटर वाहन अधिनियम में निरुद्ध कर सीज किया है।थाना पुलिस की ओवरलोड वाहनों को 207 में सीज किए जाने के पीछे पुलिसिया खेल फिर उजागर हो रहा है एक बार पुलिस कार्यवाही की बात कर रही है लेकिन ओवरलोड बालू वाहनों के नाम पर समुचित धाराओं में कार्यवाही नहीं हो रही है। वाहनों में अभिलेखों की कमी दिखाकर वाहनों को सीज किया जा रहा है। इसके पीछे थाना पुलिस का खेल है। आला अधिकारियों को वाहनों को सीज करने की सूचना देकर वाहवाही लूट रही है।दूसरी तरफ बालू के अवैध कारोबार में लगे माफियाओं को बचा रही है।
गणेश साहू 

कोरोना महामारी से बचाव का हथियार 'टीकाकरण'

बृजेश केसरवानी            
प्रयागराज। चिकित्सा अधीक्षक सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मऊआइमा। जनपद के द्वारा जन समुदाय से कोविड-19 की दूसरी लहर के दौरान अपील की गई है, कि कोरोना महामारी से बचाव का हथियार कोविड-19 टीकाकरण है। जिसका रजिस्ट्रेशन आप अपने मोबाइल या जन समुदाय केंद्र से कर सकते हैं। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मऊआइमा के अंतर्गत टीकाकरण हेतु निम्नलिखित केंद्र बनाए गए हैं। प्रथम केंद्र -सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मऊआइमा है। जहां पर 18 वर्ष से 44 वर्ष एवं 45 वर्ष से अधिक आयु के व्यक्तियों का अलग-अलग कक्षाओं में टीकाकरण सोमवार से शनिवार तक प्रातः 9:00 बजे से 5:00 बजे तक किया जाता है। इसके अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र बड़गांव ,धरोता, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र मऊआइमा एवं सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र हरकपुर में किया जा रहा है, जो कि सरकार द्वारा निशुल्क है। इस महामारी को हराने हैं तो बार-बार हाथ धोना एवं सोशल डिस्टेंस को भी अपने जीवन शैली में अवश्य अपनाएं। उनके द्वारा बताया गया कि घर-घर सर्वे का तीन चरण समाप्त हो चुके हैं। जिसके अंतर्गत खांसी, बुखार, जुखाम एवं सांस लेने में दिक्कत जैसे लक्षण वाले व्यक्तियों को चिन्हित कर उनकी जांच कराई जा रही है। और दवा की किट उपलब्ध कराई जा रही है। घर-घर सर्वे का चौथा चरण दिनांक 27/5 /2021 से प्रारंभ होगा।
टेलिफोनिक स्वास्थ्य परामर्श हेतु विशेषज्ञ डॉक्टरों के नंबर भी उपलब्ध कराए गए हैं। जिस का समय  प्रातः 9:00 बजे से अपराहन 2:00 बजे तक का है। उनका नाम एवं मोबाइल नंबर निम्न वत है।
नंबर 1 -डॉ आर जी वर्मा बाल रोग विशेषज्ञ 99 53 460 795 नंबरदो -डॉक्टर जी प्रसाद नेत्र शल्य 8840 195408 नंबर 3 -डॉ वैभव त्रिपाठी एमबीबीएस 94 50 0 91 715 नंबर 4- गुंजा अरोरा एमबीबीएस 97 94044 35 7।
सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मऊआइमा में इमरजेंसी सेवाएं 24 घंटे उपलब्ध हैं और डॉक्टर अपने रोस्टर ड्यूटी से ड्यूटी कर रहे हैं। कोरोना की जांच प्रत्येक दिन सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मऊआइमा में की जा रही है। गर्भवती महिलाओं को प्रसव संबंधी सभी सुविधाएं कोविड-19 प्रोटोकॉल के अनुसार दी जा रही हैं।सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में तीन आरआरटी टीम बनाई गई है, जो क्षेत्र मैं जाकर जांच करती हैं। इस सुविधा से बूढ़े-बुजुर्ग एवं दिव्यांग व्यक्तियों तक सुविधाएं पहुंच रही हैं। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मऊआइमा के चिकित्सा अधीक्षक, अधिकारी एवं कर्मचारियों की कड़ी मेहनत का नतीजा है, कि चिकित्सीय सुविधाएं जन जन तक पहुंच रही हैं।

कोरोना: डीएम ने ग्रामीण क्षेत्र का किया निरीक्षण

बृजेश केसरवानी       
प्रयागराज। संगम नगरी जनपद के जिलाधिकारी भानू चंद्र गोस्वामी ने ग्रामीण क्षेत्रों में जाकर कोविड-19 से बचाव के तहत किए जा रहे कार्यों का निरीक्षण किया। घरौली, बहादुरपुर ग्राम पंचायत भवन, उच्च प्राथमिक विद्यालय बाबूगंज, फूलपुर, पूर्व माध्यमिक विद्यालय बौड़ई, फूलपुर एवं सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र फूलपुर का निरीक्षण किया। वही, निगरानी समितियों के सदस्यों, आशा बहु एवं आंगनबाड़ी कार्यकत्रियां को ग्रामीण क्षेत्रों में वैक्सीनेशन हेतु जागरूकता फैलाने को कहा।सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र फूलपुर में बने वैक्सीनेशन सेंटर का निरीक्षण करते हुए वैक्सीनेशन लगवाने आये लोगों से बातचीत भी किया।

घटनास्थल पर जांच करने के लिए पहुंचें अधिकारी

अतुल त्यागी           
हापुड़। मामला जनपद के थाना बाबूगढ़ क्षेत्र के गांव फतेहपुर का है। जहां पंचायत चुनाव के वैलेट पेपर जंगल में पड़े मिलने से हड़कंप मचा। ग्रामीणों में तरह-तरह की चर्चाएं। वही, सोशल मीडिया पर खबर चलने के बाद एक्शन में आए अधिकारी काफी संख्या में पुलिस फोर्स के साथ घटनास्थल पर जांच करने के लिए अधिकारी पहुंचें।
बताया जा रहा है, जंगल में पड़े मिले सभी वैलिड पेपर चुनाव चिन्ह पर मोहर लगे हुए है। अब देखना यह है, अधिकारी मौके पर जांच कर क्या कार्रवाई करते हैं। बाबूगढ़ थाना क्षेत्र का मामला अधिकारी मौके पर जांच में जुटे।

यूपी: 24 घंटे में कोरोना के 3,957 नए मामलें मिलें

हरिओम उपाध्याय              

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में पिछले 24 घंटे में कोरोना से संक्रमित 3,957 नये मामले आये हैं। जबकि 10,441 लोग कोविड-19 से ठीक हुए हैं। राज्य के अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने मंगलवार को बताया, कि राज्य में टेस्टिंग क्षमता निरन्तर बढ़ायी जा रही है। सोमवार को कुल 2,98,808 सैम्पल की जांच की गयी है। प्रदेश में अब तक कुल 4,73,62,430 सैम्पल की जांच की गयी है। अब तक 15,88,161 लोग कोविड-19 से ठीक हो चुके हैं। प्रदेश में रिकवरी का प्रतिशत 94.7 है। प्रदेश में कोरोना के कुल 69,828 एक्टिव मामले में 42,653 कोविड मरीज होम आइसोलेशन में हैं।

अपर मुख्य सचिव सूचना नवनीत सहगल ने बताया कि प्रदेश में जारी 3 टी अभियान का स्थलीय निरीक्षण कर लोगों से फीडबैक लिया जा रहा है। अभियान के तहत प्रदेश में टेस्टिंग बढ़ाने, ऑक्सीजन बेडों की संख्या बढ़ाने, आंशिक कर्फ्यू तथा वैक्सीनेशन पर कार्य किया जा रहा है। प्रदेश में कोविड-19 के टेस्ट की संख्या में निरन्तर बढ़ोत्तरी के साथ-साथ कुल एक्टिव केसों तथा कोविड के प्रतिदिन के मामलों में निरन्तर कमी आ रही है। उन्होंने बताया कि आज मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 18 मण्डलों का भ्रमण समाप्त किया है। लगभग 15 दिनों में 18 मण्डलों के साथ 75 जिलों की समीक्षा भी की है। करीब 40 जिलों में मुख्यमंत्री स्वयं जाकर स्थलीय निरीक्षण कर चुके हैं। वह टीम-9 की बैठक निरन्तर कर रहे हैं। आज मुख्यमंत्री ने बीआरडी मेडिकल कॉलेज गोरखपुर में पीकू वार्ड का निरीक्षण किया। नवनीत सहगल ने बताया कि अन्य प्रदेशों की अपेक्षा प्रदेश में संक्रमण कम हो रहा है।

पूरे प्रदेश के शहरों और गांवों में विशेष सफाई एवं फॉगिंग अभियान चलाया जा रहा है। इस अभियान के तहत 97,509 गांवों में 87,868 कर्मियों के द्वारा 51,645 गांवों में साफ-सफाई, 27,262 गांवों में सेनिटाइजेशन तथा 9,501 गांवों में फॉगिंग की गयी है। उन्होंने बताया कि निगरानी समितियों के द्वारा 03 लाख 58 हजार लोगों को मेडिकल किट बांटी गयी है, तथा 37 लाख लोगों को 05 मई के बाद ग्रामीण क्षेत्रों में टेस्टिंग करायी गयी है।

ड्रोन का इस्तेमाल साल 2021 के अंत में प्रारंभ

अकांशु उपाध्याय                 

नई दिल्ली। दवाओं, टीकों जैसे सामान सुदूर इलाकों में कम समय में पहुंचाने के लिए ड्रोन का वाणिज्यिक इस्तेमाल इस साल के अंत तक शुरू होने की उम्मीद है। दृश्य सीमा से दूर ड्रोनों के परिचालन के लिए नागर विमानन महानिदेशालय (डीजीसीए) द्वारा अनुमति प्राप्त ऑपरेटरों में शामिल स्काई एयर मोबिलिटी के मुख्य परिचालन अधिकारी विंग कमांडर (सेवानिवृत्त) एस. विजय ने बताया कि परीक्षण अगले महीने शुरू होने की उम्मीद है। 

उन्होंने कहा, “ यदि सब कुछ सामान्य रहा तो इस साल के अंत तक सामान पहुंचाने में ड्रोन के वाणिज्यिक इस्तेमाल की अनुमति मिल जायेगी। शुरू में दवाओं, टीकों और प्राकृतिक आपदा के समय खाने के पैकेट जैसी चीजों की अनुमति मिलने की संभावना है।” डीजीसीए ने ड्रोन परेशन के लिए 500 मीटर की दूरी को दृश्य सीमा के रूप में परिभाषित किया है। स्काई एयर तेलंगाना सरकार की ‘मेडिसिन फ्रॉम दि स्काई’ (एमएफटीएस) परियोजना में काम कर रही है। विजय के अनुसार, कोविड-19 महामारी की दूसरी लहर से दृश्य सीमा से बाहर ड्रोन के इस्तेमाल संबंधी नीतिगत बदलाव की प्रक्रिया तेज हुई है। उन्होंने कहा, “पहली लहर के कारण परीक्षण में देरी हुई थी। दूसरी लहर ने इसे गति प्रदान की है। अब लोगों को समझ आ रहा है कि आपदा के समय ड्रोन का इस्तेमाल कितना प्रभावशाली हो सकता है।”

उन्होंने बताया कि लंबी दूरी के ड्रोन ऑपरेशन के लिए काफी डाटा उपलब्ध है। पिछले साल कुछ अफ्रीकी देशों ने भी ड्रोन से दवाओं का वितरण शुरू किया है। उनकी भौगोलिक परिस्थितियां हालांकि अलग हैं और उनके अनुभव को हम जस का तस नहीं अपना सकते। इसीलिए अलग से परीक्षण किया जा रहा है। एमएफटीएस परियोजना के लिए स्काई एयर ने विशेष डिब्बों का इंतजाम किया है जिनमें दवाओं और टीकों को खास तापमान पर रखकर उनके गंतव्यों तक पहुंचाया जा सकेगा। विजय ने बताया कि जब सामान पहुंचाने के लिए ड्रोन के इस्तेमाल की अनुमति मिल जायेगी तो अचानक मांग बढ़ेगी। बड़ी संख्या में ड्रोन तो उपलब्ध होगा, लेकिन उनके लिए पायलट तैयार करना चुनौती होगी। देश में ड्रोन पायलटों का प्रशिक्षण पिछले साल दिसंबर में शुरू हुआ है। अब तक जितने पायलटों का प्रशिक्षण हुआ है वे पहले से ही किसी न किसी संस्थान के लिए काम कर रहे हैं। इसे देखते हुये शुरुआती दिनों में प्रशिक्षित ड्रोन पायलटों की कमी हो सकती है।

फिर चिकित्सा व्यवस्था का स्थलीय निरीक्षण किया

बृजेश केसरवानी   वाराणसी। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दूसरे दिन मंगलवार को भी यहां चिकित्सा व्यवस्था का स्थलीय निरीक्षण करते हुए कहा कि कोरोना की संभावित तीसरी लहर के फैलाव को रोकने के लिए समुचित उपाये किये जा रहे हैं और जून से कोविड-19 वैक्सीन पर्याप्त उपलब्धता होगी, जिससे कोरोना टीकाकरण की रफ्तार तेज हो जाएगी।

मुख्यमंत्री ने अपने दो दिवसीय दौरे के दौरान आज एक स्वास्थ्य केंद्र का निरीक्षण तथा ड्रोन द्वारा गंगा नदी में निगरानी व्यवस्था का शुभारंभ किया। ड्रोन का संचालन सिगरा स्थित कोविड कंट्रोल रूम से किया जाएगा। गंगा में ड्रोन से निगरानी व्यवस्था की रिपोर्ट कंट्रोल रूम में लगातार भेजी प्राप्त होगी। आधुनिक कैमरे अलग से ड्रोन की वीडियो और फोटो लेकर भेजेंगे। इसके अलावा ड्रोन की मदद से विभिन्न क्षेत्रों में एहतियाती तौर पर दवाओं के छिड़काव के साथ ग्रामीण इलाकों एवं शहर की सफाई व्यवस्था का समय-समय पर निरीक्षण भी होगा। इसके लिए नगर निगम द्वारा चार ड्रोन मंगाये गए हैं।

उन्होंने दो दिवसीय वाराणसी दौरे के अंतिम दिन शिवपुर के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर चल रहे कोरोना टीकाकरण कार्य का निरीक्षण किया। इस दौरान मौके पर वैक्सीन का पहला डोज लगवा रही सोनी एवं सौरभ शर्मा से उन्होंने कुशलक्षेम पूछा। सोनी और सौरभ ने बताया कि वैक्सीनेशन कराने के लिए कल ही उन्होंने सलॉट बुक कराया था तथा आज टीका लगवा लिया।

मुख्यमंत्री योगी ने यहां सर्किट हाउस में विधायकों एवं अन्य जनप्रतिनिधियों के साथ भी मुलाकात की और सस्ते गल्ले की सरकारी राशन की दुकानों पर लोगों को वितरित हो रहे खाद्यान्न वितरण को सुचारू रूप से संपन्न कराने के लिए अपने दो-दो प्रतिनिधि वहां पर तैनात करने को कहा। उन प्रतिनिधियों की मौजूदगी में ही खाद्यानन वितरण करने का निर्देश दिया। साथ ही उन्होंने वैक्सीनेशन सेंटरों पर भी दो-दो लोगों को तैनात कर वैक्सीनेशन कार्य को सुचारू रूप से संपन्न कराए जाने पर विशेष जोर दिया। उन्होंने जनप्रतिनिधियों को भी वहां स्वयं जाने की अपील की।

मुख्यमंत्री योगी शास्त्रीय गायक पंडित छन्नूलाल मिश्र से मिलकर अपनी संवेदना व्यक्त की। इस दौरान पंडित छन्नूलाल मिश्र मुख्यमंत्री से मिलकर संतुष्ट दिखे। इस दौरान श्री मिश्र की पुत्री ने एक निजी चिकित्सालय द्वारा विगत दिनों अपनी छोटी बहन की चिकित्सा में हुई लापरवाही की बात उन्हें कही।

राष्ट्रव्यापी आंदोलन नहीं होगा, काले झंडे लहरायेंगे

हरिओम उपाध्याय   

नई दिल्ली। 26 मई को होने वाले राष्ट्रीय आंदोलन को किसान संगठनों ने अब वापस ले लिया है। देश में कोरोना के बढ़ते मामलों और राज्य सरकार की ओर से लागू बंदिशों के मद्देनजर किसानों ने यह फैसला लिया है। अब किसान अपने अपने स्थान से काले झंडे फहराएंगे। राकेश टिकैत ने कहा कि दिल्ली में किसी तरह का आंदोलन या फिर सार्वजनिक सभा का आयोजन नहीं किया जाएगा। राकेश टिकैत ने यह भी कहा कोई भी किसान दिल्ली की ओर मार्च नहीं करेगा। लोग जहां भी होंगे वही से काले झंडे दिखाकर विरोध जताएंगे।

विदित हो कि किसानों नए कृषि कानूनों के विरोध में प्रदर्शन करते हुए लगभग 6 महीने गुजर चुके हैं। लेकिन सरकार ने तीनो कानूनों को वापस नहीं लिया है। अब किसानों द्वारा 26 मई को ब्लैक डे के तौर पर मनाने का निर्णय लिया गया है। जिसके मद्देनजर किसान अपने अपने स्थानों पर सरकार के खिलाफ विरोध जताएंगे।

आपको बता दें कि इससे पहले राकेश टिकैत ने कहा था कि किसान संगठन केंद्र सरकार से बातचीत करने के लिए तैयार हैं। लेकिन एक बार फिर से सरकार रुख अपनाते हुए सरकार बातचीत करने के लिए तीन कृषि कानूनों को वापस लेने के मुद्दे पर चर्चा नहीं कर रही है। हम चाहते हैं कि तीनों किसी कानून हर हालत में वापस हो। विदित हो किसानों का कहना है कि जब तक बिल वापसी की नहीं घर वापसी नहीं। मोहाली में मीडिया से बातचीत करते हुए राकेश ने यह बात कही थी। वह शहीद ए आजम भगत सिंह के परिवार से मुलाकात करने जा रहे थे।

आर्थिक तंगी के कारण मिट्टी में दबा रहे हैं 'शव'

रांची। कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर के बीच विभिन्न राज्यों से मौतों का आंकड़ा बढ़ता ही जा रहा है। कई जगह देखने में आया है कि शव का अंतिम संस्कार भी नहीं हो पाया। किसी के पास पैसे की दिक्कत थी तो कुछ शवो को आर्थिक तंगी के कारण मिट्टी में दबाना पड़ा।

कोरोना के इस संकट के बीच राजनीतिक पार्टियां एक-दूसरे पर निशाना साधने से नहीं चूकते। जब भी मौका मिलता है, राजनीतिक पार्टियां एक-दूसरे पर निशाना साधती रहती हैं।अब एक बड़ा विवाद खड़ा हो गया है। झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने राज्य में मरने वाले लोगों के लिए अंतिम संस्कार के लिए मुफ्त में कफन मुहैया कराने की घोषणा की थी। मुख्यमंत्री की इस घोषणा से भारतीय जनता पार्टी आक्रामक हो गई और भारतीय जनता पार्टी ने जमकर मुख्यमंत्री पर निशाना साधा। भाजपा ने वार करते हुए कहा कि अच्छा होता अगर सीएम साहब दवाइयों की बात करते।

सत्ता पक्ष और विपक्षी दलों के बीच संघर्ष शुरू हो गया है। भाजपा नेता दीपक प्रकाश ने ट्वीट के जरिए झारखंड के मुख्यमंत्री पर निशाना साधते हुए लिखा कि 'यह अजीब विडंबना है कि जहां एक और केंद्र सरकार देशवासियों की जान बचाने के लिए युद्ध स्तर पर काम कर रही है। वहीं दूसरी और झारखंड की सरकार जनता को फ्री में कफन बाटने में जोर लगा रही है। उन्होंने कहा कि अच्छा होता अगर सरकार कफन की बात करने की वजह दवाइयां और इलाज उपलब्ध कराने पर जोर देती।

भाजपा के इस वार पर झारखंड मुक्ति मोर्चा ने तीखा पलटवार करते हुए लिखा कि 'आपकी घटिया राजनीति के कारण आपको सिर्फ कफ़न ही नजर आ रही हैं। हेमंत सरकार निशुल्क वैक्सीन भी दे रही है। पर आप और आपकी घटिया राजनीति की आपको सिर्फ कफ़न नजर आते है। वैसे आपके उत्तर प्रदेश में मां गंगा में तैरते शव, रेत में दबे गरीब के शव का नजारा ही शायद पसंद है

गलत आंकड़े पेश करने का खेल बंद करें सरकार

नरेश रघानी  

जयपुर। राजस्थान में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय को आंकड़ेबाजी छोड़कर राज्यों को अधिकाधिक वैक्सीन उपलब्ध करने के बयान पर पलटवार करते हुए कहा है कि प्रदेश में जनता को गुमराह करना एवं ग्रामीण क्षेत्रों में कोरोना संक्रमित मौतों के वास्तविक आंकड़ों को छिपाकर कम आंकड़े पेश करने का खेल बंद करना चाहिए।

भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष डा सतीश पूनियां ने सोशल मीडिया के जरिए राज्य सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि राजस्थान में न अस्पतालों की दशा सुधरी, न स्टाफ़ लगाया, न आक्सीजन प्लांट लगाये, बैड और दवा की कालाबाजारी होती रही, मरीज अस्पताल के दरवाजे पर मरते रहे, मौत के आंकड़े छुपाते रहे, पचास प्रतिशत वैक्सीनेशन राज्य सरकार की जिम्मेदारी थी, प्रदेश की जनता को गुमराह करते रहे। उन्होंने कहा कि प्रदेश की जनता आपकों कभी माफ़ नहीं करेगी। इसी तरह उपनेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र सिंह राठौड़ ने कहा कि केन्द्र सरकार को आंकड़ेबाजी छोड़ने का सुझाव देने से पहले मुख्यमंत्री ग्रामीण क्षेत्रों में कोरोना संक्रमित मौतों के वास्तविक आंकड़ों को छिपाकर कम आंकड़े पेश करने का खेल बंद करें तो मुनासिब होगा।

उल्लेखनीय है कि आज ही अशोक गहलोत ने कहा कि केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय को आंकड़ेबाजी छोड़कर राज्यों को अधिकाधिक वैक्सीन उपलब्ध करना सुनिश्चित करना चाहिए। यदि तीसरी लहर ने बच्चों को प्रभावित किया तो देश कभी माफ नहीं करेगा।

जयंत को रालोद पार्टी का अध्यक्ष बनाया, चुनौती

अकांशु उपाध्याय  

नई दिल्ली। जैसा कि पहले से ही आभास लगाया जा रहा था कि राष्ट्रीय लोकदल के अध्यक्ष रहे चौधरी अजीत सिंह के निधन के बाद उनके पुत्र को ही पार्टी का अध्यक्ष बनाया जा सकता है उस पर आज मोहर लग गई।

पार्टी द्वारा आज एक वर्चुअल मीटिंग का आयोजन किया गया। मीटिंग में सर्वप्रथम चौधरी अजीत सिंह को श्रद्धांजलि दी गई। वर्चुअल मीटिंग में चौधरी अजीत सिंह के निधन के बाद रिक्त हुए राष्ट्रीय अध्यक्ष के पद पर महासचिव आलोक त्यागी ने उपाध्यक्ष जयंत चौधरी का नाम प्रस्तावित किया। पूर्व सांसद एवं राष्ट्रीय महासचिव मुंशी रामपाल ने भी इस प्रस्ताव का अनुमोदन किया। इसके बाद राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सभी सदस्यों ने सर्वसम्मति से इस प्रस्ताव का समर्थन किया और अंत में जयंत चौधरी पार्टी का अध्यक्ष चुन लिया गया। राष्ट्रीय लोकदल के अध्यक्ष जयंत चौधरी के बनने के बाद अब आगामी चुनाव दिलचस्प होने जा रहे हैं। क्योंकि पहली बार राष्ट्रीय लोकदल के अध्यक्ष की जिम्मेदारी नव युवा के हाथों में है। युवा के हाथों में अध्यक्ष पद की जिम्मेदारी है तो जाहिर है की पार्टी आने वाले चुनाव में पूरा दमखम दिखाने वाली है। युवा कंधों पर आई जिम्मेदारी कैसे पार्टी को आगे बढ़ाती है और पार्टी कितना आगे बढ़ेगी, यह तो आने वाला वक्त ही बताएगा।

पार्टी अध्यक्ष चुने जाने पर जयंत चौधरी ने सभी सदस्यों का आभार व्यक्त किया और कहा कि उन्होंने किसान मसीहा चौधरी चरण सिंह एवं चौधरी अजीत सिंह के बताए रास्ते पर चलते हुए गांव किसान के हितों के लिए सदैव संघर्ष करने का संकल्प लिया है। जिसके लिए वह संघर्ष करते रहेंगे। जयंत चौधरी ने कहा कि संकट की इस घड़ी में मैं पार्टी से जुड़ कर संगठन को मजबूत बनाने का भरसक प हाल ही में संपन्न हुए पंचायत चुनाव के साथ पार्टी संगठन पर भी चर्चा की। पंचायत चुनाव में पार्टी समर्थित प्रत्याशी की जीत पर भी जयंत चौधरी ने संतोष व्यक्त किया।

महाराष्ट्र,गोवा एवं गुजरात में तूफान चक्रवात से हुआ नुकसान पर भी जयंत चौधरी ने गहरा दुख व्यक्त किया। इस अवसर पर जयंत चौधरी ने पिछले 6 माह से चल रहे संयुक्त किसान आंदोलन का भी समर्थन किया और पार्टी पदाधिकारियों से 26 मई को भारी संख्या में धरने में भाग लेने को कहा। जयन्त ने सरकार से भी मांग की कि वह किसानों से वार्ता कर समस्या का शीघ्र समाधान करें। मीटिंग में जयंत चौधरी ने देश में फैली कोरोना महामारी को लेकर गहरी चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि केंद्र और राज्य सरकार इस महामारी को रोक पाने में नाकामयाब साबित हो रही है। संक्रमण को रोकने के लिए टीकाकरण अभियान को गति देने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में कम समय में लाभ पहुंचाने के आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं की जोड़ा जाए।

जयंत चौधरी ने टीकाकरण को लेकर कहा की मोबाइल ऐप द्वारा टीकाकरण के लिए रजिस्ट्रेशन करने में काफी दिक्कत आ रही है। इसलिए टीकाकरण का कोई नया उपाय सरकार द्वारा अपनाया जाए जिससे आम जनमानस को दिक्कत न हो ।

अमेरिका ने जापान व श्रीलंका न जाने की सलाह दी

वाशिंगटन डीसी। कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण के चलते अमेरिका के स्वास्थ्य अधिकारियों और गृह विभाग ने अपने नागरिकों को जापान और श्रीलंका न जाने की सलाह दी है। बता दें कि जापान दो महीने के अंदर ओलंपिक खेलों की मेजबानी करने की तैयारी कर रहा है। उधर श्रीलंका में भी कोरोना के केस तेज़ी से बढ़ रहे हैं। अमेरिकी नागरिकों को जापान की यात्रा करने से प्रतिबंधित नहीं किया गया है। लेकिन इससे यात्रियों की बीमा दरों पर असर पड़ सकता है। इससे खिलाड़ी जुलाई में शुरू होने वाले ओलंपिक खेलों में भाग लेने पर पु​नर्विचार कर सकते हैं। अभी यह पता नहीं चला है कि इस चेतावनी का ओलंपिक के लिये जापान जाने वालों पर क्या असर पड़ेगा। अटलांटा स्थित रोग नियंत्रण एवं रोकथाम केंद्र ने सोमवार को कोविड—19 से संबंधित नये दिशानिर्देश जारी करते हुए कहा, 'यात्रियों को जापान की यात्रा करने से बचना चाहिए। जापान की वर्तमान स्थिति को देखते हुए यहां तक कि सभी टीके लेने वाले यात्रियों से भी कोविड के अलग-अलग प्रकारों के संक्रमण का खतरा पैदा हो सकता है।

बता दें कि कोविड-19 के बढ़ते मामलों और मौतों की बढ़ती संख्या को रोकने के लिए श्रीलंका ने यात्री ट्रेनों और बसों के परिचालन पर चार दिन के लिए रोक लगा दी है। यह कदम तब उठाया गया है। जब द्वीप देश के प्रमुख चिकित्सा संगठनों ने सरकार से देश में दो सप्ताह के लिए लॉकडाउन लगाने की मांग की है। इन संगठनों का कहना है कि कोरोना वायरस संक्रमण के मामलों की वास्तविक संख्या ज्ञात संख्या से तीन गुना से भी अधिक है। श्रीलंका ने पहले ही सार्वजनिक समारोहों, पार्टियों, शादियों पर प्रतिबंध लगा दिया है और स्कूलों तथा विश्वविद्यालयों को बंद कर दिया है। स्वास्थ्य मंत्रालय का कहना है कि श्रीलंका में संक्रमण के कुल पुष्ट मामलों की संख्या 1,54,786 हो गई है और महामारी से 1089 लोगों की मौत हुई है।

26 मई को काला दिवस मनाएंगे संयुक्त 'किसान'

दुष्यंत सिंह टीकम            

रायपुर। संयुक्त किसान मोर्चा दिल्ली के देशव्यापी आह्वान पर छत्तीसगढ़ किसान मजदूर महासंघ के घटक संगठनों की ओर से 26 मई को काला दिवस मनाएंगे। प्रदेश में भी किसान अपने घरों, गाड़ियों में काला झण्डा फहराएंगे तथा निरंकुश शासक प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और संवेदनहीन कृषि मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर का घर घर पुतला जलाएंगे। इसकी जानकारी देते हुए अखिल भारतीय क्रांतिकारी किसान सभा के उपाध्यक्ष मदन लाल साहू तथा सचिव तेजराम विद्रोही, नदीघाटी मोर्चा के संयोजक गौतम बंध्योपाध्याय, किसान समन्वय समिति सदस्य पारसनाथ साहू, गजेन्द्र कोसले, कृषक बिरादरी के संयोजक डाॅ. संकेत ठाकुर, किसान भुगतान संघर्ष समिति महासमुन्द के संयोजक जागेश्वर जूगनू चन्द्राकर, किसान मोर्चा धमतरी के संयोजक अधिवक्ता शत्रुघन साहू, अखिल भारतीय किसान महासंघ के संयोजक डाॅ. राजाराम त्रिपाठी, आदिवासी भारत महासभा के अध्यक्ष भोजलाल नेताम एवं संयोजक सौरा, राजधानी प्रभावित किसान संगठन नया रायपुर के संयोजक रूपन चंद्राकार, छत्तीसगढ निवेशक एवं अभिकर्ता कल्याण संघ के अध्यक्ष लक्ष्मी नारायण चंद्राकर, किसान संघर्ष समिति रायगढ़ के संयोजक लल्लू सिंह, किसान मजदूर महासंघ बिलासपुर के संयोजक श्याम मूरत कौशिक आदि ने कहा कि साल 2014 में भाजपा ने ’’हर हर मोदी, घर घर मोदी’’ का नारा दिया था।

इसी के साथ साथ बहुत हो गई महंगाई की मार अबकि बार मोदी सरकार, बहुत हो गई भ्रष्टाचार अबकि बार मोदी सरकार जैसे नारे दिए थे, पेट्रोल डीजल की दामों को कम करने जैसे लोक लुभावन वायदे किए थे। लेकिन आज मोदी के सात साल पूरे होने को है और उनके वायदे केवल जुमले बनकर रह गए। इस प्रकार हर साल दो करोड़ बेरोजगारों को रोजगार देने, प्रत्येक भारतीयों के बैंक खातों में 15-15 लाख रुपये देने का वायदा किया था उसी प्रकार किसानों को उनके उपजों का स्वामीनाथान आयोग की सिफारिशो के अनुरुप लागत से डेढ़ गुणा समर्थन मूल्य देने का वायदा किया था जो आज झूठा साबित हो चुका है। उल्टे कृषि को काॅरपोरेटों के हवाले करने और सार्वजनिक वितरण प्रणाली को बाजार के हवाले करने की नियत से 5 जून 2020 को अध्यादेश लाकर मोदी सरकार ने काॅरपोरेट परस्त व किसान कृषि और आम उपभोक्ता विरोधी कानून को जबरदस्ती थोपा है। जिसके खिलाफ किसानों का आन्दोलन निरंतर जारी है।

मोदी सरकार सभी सार्वजनिक संस्थानों जैसे रेल्वे, बैंक, बीमा, भेल, हवाई आदि को निजी हाथों में बेच रहा है, कॉरपोरेट घरानों को फायदा पहुंचाने के लिए ही श्रम कानूनों में संशोधन कर मजदूर विरोधी चार कोड बिल बनाया,  कोरोना जैसे महामारी के पहले चरण में नमस्ते ट्रंप किया और दूसरे चरण में पांच राज्यों के विधनसभा चुनाव के बहाने कोरोना संक्रमण की गंभीरता को हल्के में लिया और जब भारत की लाखों जनता कोरोना से अपनी जान गवां चुके हैं। आज भी स्वास्थ्य व्यवस्था चरमराया हुआ है उसे दुरुस्त न कर अनावश्यक रूप से करोड़ों रुपए खर्च कर सेंट्रल वीष्टा बनाने में लगा हुआ है। आपदा को अवसर में बदलकर आवश्यक वस्तुओं की महंगाई बढ़ाने वाले मुनाफाखोरों, कालाबाजारियों पर मोदी सरकार का कोई नियंत्रण नहीं है। अर्थात् मोदी सरकार हर मोर्चे पर असफल साबित हुआ है जो देश के मेहनतकश मजदूर किसानों और आम उपभोक्ताओं के लिए किसी अंधकारमय दिन से कम नहीं है इसलिए ’’घर घर किसान, हर घर मोदी का पूतला दहन ’’ की आशय के साथ किसान 26 मई को काला दिवस मनएंगे।

गाजियाबाद के 12 स्थानों पर टीकाकरण शुरू हुआ

अश्वनी उपाध्याय                
गाजियाबाद। प्रदेश के चिकित्सा एवं स्वास्थ्य राज्यमंत्री एवं जिला अतुल गर्ग की पहल पर सोमवार से जिले के एक दर्जन स्थानों पर खुले में टीकाकरण शुरू हो गया है। रामलीला मैदान घंटाघर के अलावा साहिबाबाद, डीपीएसजी मेरठ रोड, विजयनगर में रामलीला मैदान एवं क्रॉसिंग रिपब्लिक में भी नया केंद्र खोल दिया गया है। स्थानीय जनता की आपत्तियों के बाद  कैला भट्टा के केंद्र को रामलीला मैदान में और राजनगर के केंद्र को डीपीएसजी में शिफ्ट कर दिया गया है। केन्द्रों के स्थान बदलने के कारण एप पर रजिस्ट्रेशन कराने में परेशानी हो रही है। इस बारे में अफसरों का कहना है कि कुछ दिन यह परेशानी रहेगी।
जिले में चार महीने में जिले के 4,95,057 लोगों ने कोरोनारोधी टीका लगवाया है। 16 जनवरी को शुरू हुए टीकाकरण की रिपोर्ट के अनुसार अब तक 65,847 लोगों को टीके की दूसरी डोज लगी है। इसी क्रम में सोमवार को 50 केंद्रों पर कुल 12,676 लोगों ने कोरोनारोधी टीका लगवाया। केंद्र सरकार द्वारा दूसरी डोज की अवधि 84 दिन किए जाने के बाद केंद्रों पर दूसरी डोज लेने वालों का बोझ कम हो गया है। 14 दिन में जिले के 54 हजार युवाओं ने कोरोनारोधी टीका लगवाया है। सोमवार को 9,800 के लक्ष्य के सापेक्ष 18 से 44 वर्ष के 7,240 युवाओं ने कोरोनारोधी टीका लगवाया। जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डा.नीरज अग्रवाल ने बताया कि जिले के 50 में से 28 केंद्रों पर युवाओं के लिए टीकाकरण का इंतजाम किया गया। 45 वर्ष से अधिक उम्र के 3,819 और 1,267 बुजुर्गों को टीका लगाया गया है। 338 फ्रंट लाइन वर्कर्स एवं 12 स्वास्थ्यकर्मियों ने भी टीका लगवाया है। विगत 14 दिनों में पंजीकरण कराने के बाद 18 से 44 वर्ष के करीब दस हजार युवा टीका लगवाने नहीं पहुंचे हैं।

बुद्ध जयंती पर मांस-मटन का विक्रय रहेंगा प्रतिबंधित

दुष्यंत सिंह टीकम           
रायपुर। नगर पालिक निगम रायपुर के संपूर्ण क्षेत्र में 26 मई बुधवार को बुद्ध जयंती पर मांस-मटन का विक्रय पूर्ण रूप से प्रतिबंधित रहेगा। इस संबंध में छत्तीसगढ़ शासन के पर्यावरण एवं नगरीय विकास विभाग ने आदेश जारी कर दिया है। आदेश के पालन में निगम रायपुर के स्वास्थ्य अधिकारी विजय पांडेय ने भी पशुवधगृह व समस्त मांस-मटन विक्रय दुकानों को बंद रखनेआदेश जारी किया है। पांडेय ने बताया कि किसी भी दुकान में मांस विक्रय करते पाए जाने पर मांस जब्त करने की कार्रवाई की जाएगी। संबंधित व्यक्ति के विरुद्ध यथोचित कार्रवाई भी की जाएगी। निगम रायपुर के समस्त जोन स्वास्थ्य अधिकारी/ जोन स्वच्छता निरीक्षक मांस विक्रय पर प्रतिबंध के आदेश का पालन तय करवाएंगे। अपने क्षेत्रों में लगातार निगरीनी करेंगे।

इंसानों और जानवरों के नर नपुंसक, तो क्या होगा ?

कविता देवी               

भविष्य में पूरी दुनिया एक ऐसी समस्या से जूझेगी, जो किसी भी महामारी से ज्यादा बड़ी होगी। धरती पर मौजूद सभी जीवों की अगली पीढ़ी के लिए खतरा है। आप सोचिए कि कुछ सालों बाद इंसानों और अन्य जानवरों के नर नपुंसक हो जाएं तो क्या होगा ? एक नई स्टडी में इस बात का खुलासा हुआ कि इसके लिए सबसे बड़ी वजह जलवायु परिवर्तन और अत्यधिक तापमान है। इससे पहले पर्यावरण में शामिल अलग-अलग प्रकार के घातक रसायन भी जिम्मेदार हैं।

हमें पता है कि ज्यादा तापमान जब अत्यधिक की ओर बढ़ता है तो जानवरों की जान जाने लगती हैं। ये उसे बर्दाश्त नहीं कर पाते। नई रिसर्च में ये बात सामने आई है कि ज्यादा तापमान वाले पर्यावरण में नर जीव नपुंसक हो ही रहे हैं। इसके अलावा जिन जगहों पर तापमान को लेकर इतने बुरे हालात नहीं हैं, उन्हें भी नपुंसक होने का खतरा है। इसका मतलब ये है कि प्रजातियों का विभाजन प्रजनन के मामले में तापमान के चलते गड़बड़ हो जाए। शायद इंसान जलवायु परिवर्तन को कमतर आंक रहा है। यहीं पर गलती हो रही हैं इंसानों से…अगर इसे नहीं रोका गया तो ये किसी भी महामारी से ज्यादा भयानक स्थिति होगी। कुछ जीवों की प्रजातियां तो विलुप्त भी हो सकती हैं।

वैज्ञानिकों को कुछ सालों से ये बात पता है कि तापमान बढ़ता है तो जानवरों की प्रजनन क्षमता बिगड़ती हैं।उदाहरण के लिए अगर 2 डिग्री सेल्सियस तापमान बढ़ता है तो कोरल्स में स्पर्म बंडल्स और अंडों के आकार में कमी आ जाती है। इसके अलावा बीटल्स और मधुमक्खियों की कुछ प्रजातियों में प्रजनन दर की कमी देखी गई हैं। जितना तेजी से तापमान बढ़ता है, उतनी ही तेजी से मधुमक्खियों जैसे कीट-पतंगों की प्रजनन क्षमता में कमी आती है। ज्यादा तापमान का असर गाय, सूअर, मछली और पक्षियों की प्रजनन क्षमता पर भी असर डालता है। इसके भी उदाहरण वैज्ञानिकों के पास मौजूद है। हालांकि अभी तक वैज्ञानिक इस बात की जांच नहीं कर पाए हैं कि ज्यादा तापमान से जैव-विविधता पर किस स्तर का असर पड़ेगा। इसे लेकर कोई भविष्यवाणी फिलहाल नहीं की जा सकती।

जनहित याचिका पर सरकार से जवाब तलब किया

अकांशु उपाध्याय                 

नई दिल्ली। उच्चतम न्यायालय ने पश्चिम बंगाल में चुनाव-उपरांत हिंसा से प्रभावित परिवारों का पलायन रोकने, मुआवजा दिलाये जाने और उनके पुनर्वास संबंधी जनहित याचिका पर केंद्र और राज्य सरकार से मंगलवार को जवाब तलब किया। न्यायमूर्ति विनीत सरन और न्यायमूर्ति बी आर गवई की अवकाशकालीन खंडपीठ ने अरुण मुखर्जी, देबजानी हलदर, प्रशांत दास, प्रमिता डे और भूपेन हलदर की याचिका की सुनवाई के दौरान केंद्र सरकार और राज्य सरकार को नोटिस जारी किये तथा मामले की सुनवाई सात जून को शुरू हो रहे सप्ताह के लिए स्थगित कर दी। अरुण मुखर्जी और देबजानी हलदर सामाजिक कार्यकर्ता हैं। प्रशांत दास कूचबिहार जिले में हुई हिंसा से प्रभावित व्यक्ति हैं। प्रमिता डे और भूपेन हलदर वकील हैं। जिनके आवास और कार्यालय कथित तौर पर तृणमूल कांग्रेस के कार्यकर्ताओं द्वारा क्षतिग्रस्त कर दिये गये थे।

दिल्ली में ब्लैक फंगस के 500 मामलें सामने आएं

अकांशु उपाध्याय      

नई दिल्ली। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सोमवार को कहा कि राष्ट्रीय राजधानी में ब्लैक फंगस के करीब 500 मामले हैं। अरविंद केजरीवाल ने संवाददाताओं से कहा कि शहर में ब्लैक फंगस के दवाओं की अत्यधिक कमी है और इसका उत्पादन बढ़ाना होगा। उन्होंने बताया कि दिल्ली सरकार ने इस रोग के इलाज के लिए एलएनजेपी अस्पताल, जीबीटी अस्पताल तथा राजीव गांधी अस्पताल में समर्पित केंद्र स्थापित किए हैं, लेकिन दवाइयां नहीं हैं।

उन्होंने कहा, ''हमें कल दवा नहीं मिली, इसलिए हम दवाओं के बिना मरीजों का इलाज कैसे कर सकते हैं? इंजेक्शन को दिन में चार से पांच बार दिया जाता है। अगर हमें इंजेक्शन नहीं दिया जाता है तो हम रोगी का इलाज कैसे कर सकते हैं? अचानक यह बीमारी उभरी है और बाजार में इसकी दवा की कमी है। केंद्र सरकार सभी राज्यों में मौजूद सभी दवाइयां वितरित कर रही है। दवा की अत्यधिक कमी है। इसके उत्पादन को भी बढ़ाना है। चूंकि चार से पांच इंजेक्शन को प्रति दिन देने की आवश्यकता होती है और लगभग 500 रोगी हैं।इसलिए हमें प्रतिदिन 2000 इंजेक्शन की आवश्यकता है। लेकिन हमें केवल 400 से 500 इंजेक्शन मिल रहे हैं।"

माकपा नेता विधानसभा के नए अध्यक्ष बनें: केरल

तिरुवनंतपुरम। सत्तारूढ़ माकपा के विधायक एमबी राजेश को मंगलवार को यहां केरल विधानसभा का नया अध्यक्ष चुना गया। राजेश 15 वीं विधानसभा के अध्यक्ष होंगे और श्रीरामकृष्णन की जगह लेंगे। थ्रीथाला से कांग्रेस के दो बार के विधायक वीटी बलराम को मात देकर पहली बार विधायक बने राजेश (50) अपने पहले कार्यकाल में राज्य विधानसभा के शीर्ष पद पर काबिज होने वाले तीसरे विधायक हैं। राज्य विधानसभा में राजेश का यह पहला कार्यकाल है, लेकिन इससे पहले वह 10 साल तक संसद के सदस्य रह चुके हैं।

राज्य माकपा समिति के सदस्य ‘डेमोक्रेटिक यूथ फेडरेशन ऑफ इंडिया’ (डीवायएफआई) के पूर्व राज्य एवं राष्ट्रीय अध्यक्ष के रूप में भी अपनी सेवाएं दे चुके हैं। डीवायएफआई माकपा की युवा शाखा है। सदन में आज सुबह नए अध्यक्ष के चयन के लिए हुए मतदान के दौरान 140 सदस्यीय विधानसभा में 96 के मुकाबले 136 वोट हासिल कर उन्होंने जीत दर्ज की।

कांग्रेस-यूडीएफ के उम्मीदवार पीसी विष्णुनाथ केवल 40 वोट हासिल कर पाए। इस मतदान के दौरान के. बाबू, एम विन्सेंट और वी अब्दुर रहमान स्वास्थ्य कारणों के चलते मौजूद नहीं थे। वहीं, विधायक पीटीए रहीम ने ‘प्रो टेम स्पीकर’ होने की वजह से मत नहीं दिया। मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने सुबह सदन की कार्यवाही शुरू होने के बाद सबसे पहले वोट डाला। नतीजों की घोषणा के बाद विजयन और विपक्ष के नेता वीडी सतीसन राजेश को अध्यक्ष की कुर्सी तक ले गए।

इसके बाद, विजयन ने उन्हें अनुकरणीय तरीके से अपनी नई जिम्मेदारी निभाने में सफलता की शुभकामनाएं दी। मुख्यमंत्री ने कहा, ” मैं कामना करता हूं कि नए अध्यक्ष सदन के सदस्यों के अधिकार की रक्षा करेंगे और सरकार की जिम्मेदारी को पूरा करेंगे।” वीडी सतीसन ने भी नए अध्यक्ष को शुभकामनाएं दी और उन्हें विपक्ष के सभी सदस्यों के सहयोग का आश्वासन दिया।

11 केंद्रीय मंत्रियों के खिलाफ कार्यवाई की मांग की

अकांशु उपाध्याय  

नई दिल्ली। कांग्रेस ने कथित ‘कोविड टूलकिट’ मामले में मंगलवार को 11 केंद्रीय मंत्रियों के ट्वीट का हवाला देते हुए माइक्रो-ब्लॉगिंग वेबसाइट ट्विटर से आग्रह किया कि इन नेताओं को लेकर भी उसी तरह की कार्रवाई की जाए जो ‘मैनिपुलेटेड मीडिया’ (छेड़छाड़ किया हुए तथ्यों) और ‘फर्जीवाड़े’ के दूसरे मामलों में की जाती है।

कांग्रेस महासचिव एवं मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने केंद्रीय मंत्रियों-गिरिराज सिंह, पीयूष गोयल, स्मृति ईरानी, रविशंकर प्रसाद, प्रह्लाद जोशी, धर्मेंद्र प्रधान, रमेश पोखरियाल निशंक, थावरचंद गहलोत, हर्षवर्धन, मुख्तार अब्बास नकवी और गजेंद्र सिंह शेखावत के ट्वीट के यूआरएल ट्विटर इंडिया के प्रबंधन को एक पत्र के माध्यम से भेजे हैं और कारवाई की मांग की है।सुरजेवाला ने ट्विटर प्रबंधन को भेजे पत्र में कहा कि ‘फर्जी सामाग्री को प्रसारित करने के लिए ट्विटर के मंच के दुरुपयोग करने’ और ‘मैनिपुलेटेड मीडिया’ के दूसरे मामलों में कार्रवाई का जो मापदंड अपनाया जाता है, वही इन मंत्रियों के ट्वीट के मामलों में भी अपनाया जाए। फिलहाल, इन वरिष्ठ मंत्रियों और भाजपा की तरफ से कांग्रेस के इस कदम पर कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है।

गौरतलब है कि पिछले सप्ताह ट्विटर ने कथित ‘कोविड टूलकिट’ से संबंधित भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा के ट्वीट को ”छेड़छाड़ किया हुआ” बताया था। भाजपा का आरोप है कि कांग्रेस ने एक टूलकिट बनाकर कोरोना वायरस के नए स्वरूप को ”भारतीय स्वरूप” या ”मोदी स्वरूप” बताया और देश तथा प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की छवि खराब करने का प्रयास किया।

हालांकि, कांग्रेस ने आरोपों को खारिज करते हुए दावा किया था कि भाजपा उसे बदनाम करने के लिये फर्जी ‘टूलकिट’ का सहारा ले रही है। कांग्रेस ने भाजपा के कई वरिष्ठ नेताओं के खिलाफ पुलिस में ‘जालसाजी’ का मामला भी दर्ज कराया है।

बीसीसीआई 2000 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर्स दान करेगा

अकांशु उपाध्याय   

नई दिल्ली। भारत में लगातार कोरोना के नए नए केस सामने आ रहे हैं। हालांकि अब रोजाना आने वाले केसों की संख्या दो लाख के नीचे आ गई है, लेकिन इसके बाद भी लगातार लोग कोरोना से संक्रमित हो रहे हैं। इस बीच लगातार लोग मदद के लिए भी आगे आ रहे हैं। देश में इस वक्त क्रिकेट बंद है। आईपीएल चल रहा था, लेकिन इसे कोरोना वायरस के कारण ही सस्पेंड कर दिया गया था। अब भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड यानी बीसीसीआई ने बताया है कि वह कोरोना महामारी से लड़ने में सहायता करेगी, जिसके तहत बोर्ड 10 लीटर के 2000 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर्स दान किया जाएगा। देश इस वक्त कोरोना की दूसरी लहर से प्रभावित है जिसके कारण ऑक्सीजन अन्य मेडिकल उपरकरणों की मांग तेज हो गई है। अगले कुछ महीने भारतीय क्रिकेट बोर्ड देश भर में ऑक्सीजन कंसंट्रेटर्स बांटेगा, ताकि जरूतमंदों को इसे उपलब्ध कराया जा सके।

बीसीसीआई के अध्यक्ष सौरव गांगुली ने कहा है कि बोर्ड इस बारे में अवगत है कि मेडिकल स्वास्थ्यकर्मी इस महामारी से जंग में कितनी अहम भूमिका निभा रहे हैं। ये लोग सच्चे फ्रंटलाइन वर्कर हैं लोगों को बचाने के लिए हर संभव कोशिश कर रहे हैं। बोर्ड ने हमेशा स्वास्थ्य सुरक्षा को सबसे अधिक प्राथमिकता दी है। ऑक्सीजन कंसंट्रेटर्स से लोगों को तुरंत राहत मिलेगी मरीज को स्वस्थ होने में मदद मिलेगी।
बीसीसीआई के सचिव जय शाह ने कहा है कि इस वायरस के खिलाफ हमें कंधा से कंधा मिलाकर चलना है। बीसीसीआई को पता है कि इस वक्त मेडिकल उपकरणों की कितनी जरूरत है। हम उम्मीद करते हैं इससे देशभर में इसकी मांग पूरी हो सकेगी। हम सबने इस महामारी के कारण काफी कुछ सहा है लेकिन वैक्सीन के होने से कुछ राहत मिली है। मैं सभी लोगों से अपील करता हूं कि वह वैक्सीन लें। बीसीसीआई दुनिया का सबसे अमीर क्रिकेट बोर्ड है 2018-18 की बैलेंस शीट के अनुसार, इसकी कुल आय 14,489.80 करोड़ रुपये थी।

अमेजन का डिलीवरी एप को बंद करने का निर्णय

नई दिल्ली। अमेजन ने प्राइम नाउ डिलीवरी एप को बंद करने का निर्णय लिया है। ऐसे में कंपनी की दो घंटे में डिलीवरी ऑप्शन उपलब्ध नहीं रहेगा। अब यह सर्विस अब मेन एप और वेबसाइट पर चालू पहेगी। बता दें प्राइम नाउ सुविधा भारत, सिंगापुर और जापान में पहले से बंद है। अमेजन इसे अगले साल दुनियाभर में बंद करने जा रही है।

अमेजन की वाइस प्रेसिडेंट ऑफ ग्रॉसरी स्टेफेनी लांड्री ने कहा कि दो घंटे डिलीवरी सुविधा 2019 में शुरू हुई थी। ग्लोबली थर्ड पार्टी पार्टनर और लोकल स्टोर की सहायता से प्राइम एप और वेबसाइट पर यह सर्विस उपलब्ध थी। उन्होंने कहा कि प्राइम नाउ की शुरुआत 2014 में हुई थी। अब ग्राहकों के लिए शॉपिंग, ऑर्डर ट्रैकिंग और कस्टमर सर्विस के लिए सुविधाजनक ऑप्शन बन गया। अमेजन के मुख्य एप में सभी पुरानी सर्विस मौजूद रहेंगी।

अमेजन के अनुसार जिन कस्टमरों ने टू ऑवर डिलीवरी ऑप्शन का चयन किया है। उनका एक्सपीरिएंस अच्छा रहा है। अमेरिका में ग्राहक एलेक्षा की सहायता से अमेजन फ्रेश या फ्रूड शॉपिंग कार्ट पर लिस्ट बना सकते हैं। बता दें कंपनी अब अपनी सभी सर्विस एक ही प्लेटफॉर्म पर देना चाहती है। इस लिए कंपनी ने प्राइम नाउ एप और वेबसाइट को बंद का फैसला लिया है।

तूफान: भारी तबाही से बचने के लिए सुरक्षा इंतजाम

इकबाल अंसारी  

भुवनेश्वर। मौसम विभाग ने चेतावनी जारी कर दी कि अगले 24 घंटे में चक्रवात यास बेहद गंभीर चक्रवात तूफान में तब्दील हो जाएगा। बुधवार को यास बंगाल और ओडिशा के तट पर पहुंचेगा। चक्रवात के टकराने के बाद भारी तबाही से बचने के लिए लोगों को सुरक्षित स्थान पर भेज दिया गया है। वहीं गृह मंत्रालय ने चक्रवात यास से प्रभावित होने वाले सभी राज्यों को आश्वासन दिया है कि मंत्रालय उनकी मदद के लिए 24 घंटे तैयार रहेगा। इसके अलावा भारतीय मौसम विभाग ने जानकारी दी है कि 26 मई की दोपहर को चक्रवात यास उत्तरी ओडिशा और बंगाल के तटों से टकराएगा। 

ओडिशा के बालासोर के करीब पारादीप और सागर आइलैंड के बीच उत्तरी ओडिशा-पश्चिम बंगाल तट के करीब से चक्रवाती तूफान यास के गुजरने की संभावना है। भारतीय मौसम विभाग की ओर से मंगलवार को यह जानकारी दी गई है। पश्चिम बंगाल के दीघा में बारिश शुरू हो गई है। यहां से बुधवार को चक्रवात यास के गुजरने का अनुमान है।
मौसम विभाग ने मंगलवार को पूर्वानुमान में बताया कि अगले 12 घंटों में यह तूफान भीषण रूप ले सकता है। विभाग की ओर से आज जारी किए गए बुलेटिन में बताया गया, `पूर्व-उत्तर बंगाल की खाड़ी से भीषण चक्रवात यास उत्तर पश्चिम की ओर 9 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से चल रहा है। अगले 12 घंटों में यह और भयंकर हो सकता है। बुधवार, 26 मई की सुबह यह पश्चिम बंगाल व ओडिशा के तट के करीब पहुंचेगा।

राहत शिविरों में पहुंचे बालासोर निवासी

ओडिशा के चांदीपुर में भी भारी बारिश हो रही है। मौसम विभाग के अनुसार 26 मई को चक्रवात बालासोर तट से टकराएगा और यहां लैंडफॉल हो सकता है। चक्रवात की आशंका को देखते हुए बालासोर जिले से लोगों को निकाल कर चांदीपुर में बनाए गए राहत शिविरों में पहुंचाने का काम जारी है। बालासोर के बीडीओ नरेंद्र खामरी ने यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि आज दोपहर तक यह काम पूरा हो जाएगा। बीडीओ ने आगे बताया, `हम सभी लोगों को दोपहर तक स्कूल और कॉलेज में बनाए गए अस्थायी आश्रय केंद्रों में शिफ्ट कर देंगे। वहां सभी के लिए खाने- पीने का इंतजाम किया गया है। वहां कोविड गाइडलाइन के हिसाब से व्यवस्था की गई है। लोगों से अपील है कि नजदीक के सुरक्षित घरों में पहुंच जाएं।

लोगों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया गया

ओडिशा के चांदीपुर में ज़िला प्रशासन मरीन पुलिस के साथ मिलकर मछुआरों के गांवों को खाली करा रहा है और लोगों को सुरक्षित स्थान पर भेज रहा है। एक अधिकारी ने बताया कि हम सभी लोगों को दोपहर तक स्कूल और कॉलेज में बनाए गए अस्थायी आश्रय केंद्रों में शिफ्ट कर देंगे। वहां सभी के लिए खाने- पीने का इंतजाम किया गया है। वहां कोविड गाइडलाइन के हिसाब से व्यवस्था की गई है। लोगों से अपील है कि नजदीक के सुरक्षित घरों में पहुंच जाएं।
ओडिशा सरकार ने निचले इलाकों बालासोर, भद्रक, केंद्रपाड़ा और जगतसिंहपुर जिलों से करीब एक लाख लोगों को सुरक्षित स्थानों तक पहुंचाया है। इन जिलों में चक्रवात का खतरा ज्यादा है।

छुआछूत का रोग नहीं फंगस, नाम नहीं लक्षण समझें

अकांशु उपाध्याय   

नई दिल्ली। स्वास्थ्य मंत्रालय की प्रेस कॉन्फ्रेंस में एम्स के निदेशक डॉक्टर रणदीप गुलेरिया ने कहा कि ब्लैक फंगस को अलग अलग रंगों के नाम से पहचान देना गलत है। ये छुआछूत कोरोना वायरस की तरह फैलता नहीं है। उन्होंने कहा साफ-साफ का ध्यान रखें और उबला पानी पिएं। डॉ. गुलेरिया ने कहा, ‘रंग के बयाज लक्षणों पर ध्यान देना जरूरी है।’ उन्होंने कहा कि कोरोना की पहली और दूसरी लहर में बच्चे कम संक्रमित हुए हैं। ऐसे में कहा जा सकता है कि तीसरी लहर में बच्चों में संक्रमण होगा। डॉ. रणदीप ने कम इम्यूनिटी वाले वाले ब्लैक फंगस, कैंडिडा और एस्पोरोजेनस के चपेट में ज्यादा आते हैं। म्यूकोर्मिकोसिस कोई बीमारी नहीं है। ये साइनस, राइनो ऑर्बिटल, बेन और छोटी आंत पर असर करता है। रंगों से इसे पहचान देना सहीं नहीं है।

एम्स निदेशक ने बताया कि रिकवरी रेट में वृद्धि के बाद लोगों को पोस्ट कोरोना सिंड्रोम चार से बारह सप्ताह रह सकता हैं। सांस लेने में परेशानी, सीने में दर्द, खांसी, थकान, तनाव और अनिद्रा जैसी शिकायत रहती है। उन्होंने कहा कि काउंसलिंग, रिबाबिलिटेशन, ट्रीटमेंट और योग करना जरूरी है। वहीं संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने कहा कि पिछले 22 दिनों से सक्रिय मामलों की संख्या में कमी देखी गई है। 3 मई के समय देश में 17.13 प्रतिशत एक्टिव केस थे। अब यह घटकर 10.17 प्रतिशत रह गई है।

41 दिनों बाद 24 घंटे में 1,96,427 नए मामले मिलें

अकांशु उपाध्याय  
नई दिल्ली। भारत में 41 दिनों बाद 24 घंटे में कोविड-19 के दो लाख से कम 1,96,427 नए मामले सामने आने के बाद देश में संक्रमितों की संख्या बढ़कर 2,69,48,874 हो गई। इससे पहले 14 अप्रैल को एक दिन में संक्रमण के 1,84,372 नए मामले सामने आए थे। केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से मंगलवार सुबह आठ बजे जारी किए गए अद्यतन आंकड़ों के अनुसार, देश में 3,511 और लोगों की संक्रमण से मौत के बाद मृतक संख्या बढ़कर 3,07,231 हो गई।देश में 21 दिन बाद मौत के इतने कम मामले सामने आए हैं। आंकड़ों के अनुसार, देश में अभी 25,86,782 लोगों का कोरोना वायरस संक्रमण का इलाज चल रहा है, जो कि कुल मामलों का 9.60 प्रतिशत है। देश में कुल 2,40,54,861 लोग अभी तक संक्रमण मुक्त हो चुके हैं और मरीजों के ठीक होने की राष्ट्रीय दर 89.26 प्रतिशत है।कोविड-19 से मृत्यु दर 1.14 प्रतिशत है। देश में पिछले साल सात अगस्त को संक्रमितों की संख्या 20 लाख, 23 अगस्त को 30 लाख और पांच सितम्बर को 40 लाख से अधिक हो गई थी। वहीं, संक्रमण के कुल मामले 16 सितम्बर को 50 लाख, 28 सितम्बर को 60 लाख, 11 अक्टूबर को 70 लाख, 29 अक्टूबर को 80 लाख, 20 नवम्बर को 90 लाख के पार गए।

वहीं, 19 दिसम्बर को ये मामले एक करोड़ के पार और चार मई को दो करोड़ के पार चले गए। भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के अनुसार, देश में 24 मई तक कुल 33,25,94,176 नमूनों की कोविड-19 संबंधी जांच की गई। इनमें से 20,58,112 नमूनों की जांच सोमवार को की गई।

शासनादेश की प्रतियां जला कर विरोध प्रदर्शन: यूपी

हरिओम उपाध्याय  
लखनऊ। सिविल अस्पताल में स्वास्थ्य कर्मचारियों ने शासनादेश की प्रतियां जला कर विरोध प्रदर्शन किया। सभी स्वास्थ्य कर्मचारियों को 25 प्रतिशत भत्ता दिया जाएगा। फर्मासिस्ट एसोसिएशन ने रोष जताते हुए कहा कि जिसका शासनादेश जारी किया गया था लेकिन इस आदेश में बंटवारा किया गया, शासनादेश के अनुसार कोविड वार्ड में काम कर रहे कर्मचारियों को 25 प्रतिशत भत्ता दिया जाएगा। जिसका विरोध आज सिविल अस्पताल में किया गया। एसोसिएशन के अधिकारियों ने कहा कि शासन कर्मचारियो में बंटवारा न किया जाए। सभी स्वास्थ्य कर्मचारी कोविड में जंग लड़ रहे हैं।

खतरा: कोरोना से बड़ी संख्या में बच्चे प्रभावित होंगे

अकांशु उपाध्याय   
नई दिल्ली। सरकार के राष्ट्रीय टीकाकरण तकनीकी सलाहकार समूह (एनटीएजीआई) के कोविड-19 संबंधी कार्यसमूह के प्रमुख ने कहा है कि यह मानने के कोई कारण मौजूद नहीं है कि आने वाले हफ्तों, महीनों या कोविड-19 की अगली लहर में, बड़ी संख्या में बच्चे इससे प्रभावित होंगे। हालांकि उन्होंने बाल कोविड सेवाओं में सुधार के लिए अतिरिक्त संसाधनों की जरूरत पर जोर जरूर दिया। एनटीएजीआई के कोविड-19 संबंधी कार्यसमूह के प्रमुख डॉ. एन.के. अरोड़ा ने कहा कि मौजूदा आंकड़े भारत में वायरस के विभिन्न स्वरूपों द्वारा बच्चों या युवाओं को विशेषतौर पर प्रभावित करने संबंधी कोई पूर्वानुमान नहीं दिखाते हैं।
उन्होंने, ”चूंकि संक्रमण के कुल मामले बढ़े हैं इसलिए दोनों आयुवर्ग के मरीज भी ज्यादा नजर आ रहे हैं।” आईएनसीएलईएन न्यास के निदेशक अरोड़ा ने कहा कि इस वक्त तीसरी लहर के बारे में कुछ भी अनुमान लगाना संभव नहीं है। अरोड़ा ने कहा, ”अपने देश में जो अनुभव मिला है और दुनिया के अन्य हिस्सों में जो देखने को मिला है उसके आधार पर यह मानने का कोई कारण नहीं है कि आगामी हफ्तों या महीनों में या कोरोना वायरस की अगली लहर में, बड़ी संख्या में बच्चे इससे प्रभावित होंगे।”

हीरा व्यापारी मेहुल चोकसी लापता हो गया: पुलिस

अकांशु उपाध्याय  
नई दिल्ली। एंटीगुआ एवं बारबुडा में रह रहा भगोड़ा हीरा व्यापारी मेहुल चोकसी लापता हो गया है और रविवार से ही पुलिस उसकी तलाश में जुटी है। कैरिबियाई द्वीपीय देश की ‘रॉयल पुलिस फोर्स’ ने एक बयान में यह जानकारी दी। उल्लेखनीय है कि चोकसी पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) के साथ कथित तौर पर 13,500 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी के मामले में वांछित है। वह जनवरी 2018 से इस देश में रह रहा है।अधिकारियों ने मंगलवार को बताया कि चोकसी के खिलाफ लगे आरोपों की जांच कर रही सीबीआई ने इस खबरों ” औपचारिक और अनौपचारिक ” मंचों के जरिए पुष्टि कर रही है। इंटरपोल ने भी एजेंसी के अनुरोध पर उसके खिलाफ ‘रेड कॉर्नर नोटिस’ जारी किया है। एंटीगुआ पुलिस ने एक बयान में बताया कि चोकसी को रविवार को आखिरी बार उसकी कार में देखा गया था। कार तो पुलिस ने बरामद कर ली है लेकिन चोकसी का कुछ पता नहीं चल पाया है। चोकसी के वकील विजय अग्रवाल ने उनके मुवक्किल के लापता होने की खबरों की पुष्टि की है। एंटीगुआ पुलिस ने भारतीय समयानुसार सोमवार रात चोकसी के लापता होने के संबंध में बयान जारी किया। पुलिस ने उसकी तलाश रविवार को शुरू की थी और उसकी तस्वीर के साथ एक बयान जारी किया है ताकि लोगों से उसके संबंध में जानकारी हासिल की जा सके।

बयान में कहा गया है, ”पुलिस जॉली हार्बर के निवासी 62 वर्षीय मेहुल चोकसी के लापता होने के मामले की जांच कर रही है। चोकसी के लापता होने की शिकायत जॉनसन प्वाइंट पुलिस थाने में दर्ज कराई गई है। वह रविवार 23 मई 2021 से लापता है।” स्थानीय मीडिया संस्थान ‘एंटीगुआन्यूजरूम’ ने पुलिस आयुक्त एटली रॉडने के हवाले से मंगलवार को बताया कि पुलिस ”भारतीय कारोबारी मेहुल चोकसी का पता लगाने में जुटी है” जिसके लापता होने की ”अटकलें” हैं। खबर के अनुसार, एंटीगुआ एवं बारबुडा की नागरिकता ले चुके चोकसी को रविवार को दक्षिण इलाके में गाड़ी चलाते देखा गया था। बाद में उसका वाहन बरामद हो गया लेकिन चोकसी का कुछ पता नहीं चल पाया।

चोकसी ने जनवरी 2018 में भारत से भागने से पहले ही, 2017 में कैरिबियाई द्वीपीय देश एंटीगुआ एवं बारबुडा की नागरिकता हासिल कर ली थी। चोकसी और उसके भतीजे नीरव मोदी पर कुछ बैंक अधिकारियों की मिलीभगत से पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) के साथ कथित तौर पर 13,500 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी करने का आरोप है। नीरव मोदी अभी लंदन की एक जेल में बंद है। दोनों के खिलाफ केन्द्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) जांच कर रहा है।

यास: 12 घंटों में बहुत गंभीर चक्रवाती तूफान बनेगा

अकांशु उपाध्याय   
नई दिल्ली। चक्रवाती तूफान ‘यास’ उत्तर-उत्तर-पश्चिम की ओर बढ़ते हुये अगले 12 घंटों के दौरान एक बहुत गंभीर चक्रवाती तूफान में बदल सकता है। भारतीय मौसम विभाग ने मंगलवार को यह जानकारी दी। मौसम विभाग ने बयान जारी कर बताया कि चक्रवाती तूफान उत्तर-पश्चिम की तरफ बढ़ेगा और फिर तेज गति से बुधवार की सुबह उत्तरी ओडिशा और पश्चिम बंगाल के तटों के पास उत्तर पश्चिमी बंगाल की खाड़ी तक पहुंचेगा।
इसी दिन दोपहर के आसपास इसके बहुत गंभीर चक्रवाती तूफान के रूप में पारादीप और सागर द्वीपों के बीच उत्तर ओडिशा-पश्चिम बंगाल के तटों को पार करने का अनुमान है। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने सोमवार को ओडिशा, पश्चिम बंगाल और आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्रियों तथा अंडमान एवं निकोबार द्वीपसमूह के उपराज्यपाल से सभी कोविड-19 अस्पतालों, लैब, वैक्सीन कोल्ड चेन और अन्य चिकित्सा सुविधा केंद्रों में पावर बैकअप की पर्याप्त व्यवस्था कर चक्रवात से निपटने के लिए तैयारियां रखने के निर्देश दिये थे।

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन
सर्वसाधारण को सूचित किया जाता है श्रीमती जमीला पत्नी मोहम्मद छुट्टन निवासी अल्वी नगर, पानी प्लांट के पास, थाना लोनी, जनपद-गाजियाबाद के द्वारा अपने पुत्र मोहम्मद आजाद वह पुत्रवधू फराह उर्फ नन्नी को अपनी चल-अचल संपत्ति से बेदखल कर दिया है। सभी प्रकार के संबंध विच्छेद कर दिए गए हैं। भविष्य में इनका किसी प्रकार कोई संबंध न समझा जाए।

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

1. अंक-283 (साल-02)
2. बुधवार, मई 26, 2021
3. शक-1984, बैसाख, शुक्ल-पक्ष, तिथि- पूर्णिमा , विक्रमी सवंत-2078।
4. सूर्योदय प्रातः 05:55, सूर्यास्त 07:08।
5. न्‍यूनतम तापमान -14 डी.सै., अधिकतम-36+ डी.सै.। बरसात की संभावना बनी रहेगी।
6.समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है।
7.स्वामी, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी।
8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102।
9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.-20110
http://www.universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
संपर्क सूत्र :- +919350302745  
                     (सर्वाधिकार सुरक्षित)

शराब: डब्ल्यूटीओ में शिकायत दर्ज करेंगा आस्ट्रेलिया

सिडनी/ बीजिंग। ऑस्ट्रेलिया ने कहा है कि वो उनके यहाँ बनी शराब पर चीन के शुल्क बढ़ाने के खिलाफ डब्ल्यूटीओ में शिकायत दर्ज करेगा। चीन ने पिछले...